शनिवार, 30 नवंबर 2019

यमन के सुल्तान की कैद से भागे 9 मछुआरे

कोच्चि। यमन में एक सुल्तान की कैद से भागे नौ भारतीय मछुआरे जब कोच्ची तट पर पहुंचे तो आंखों के आंसू उनकी खुशी ब्यां कर रहे थे। 10 दिन तक 3000 किलोमीटर लंबा समुद्री सफर तय करने के बाद सभी मछुआरों ने भारतीय सरजमीं पर पैर रखे तो घुटनों के बल बैठ गए और धरती को चूमा। उनकी खुशी का ठिका नहीं था। जानकारी के अनुसार 9 भारतीय मछुआरों को यमन में एक सुल्तान ने बीते एक साल से बंधक बनाकर रखा था। उनमें से 2 केरल व 7 मछुआरे तमिलनाडु के थे। इन मछुआरों से जरूरत से ज्यादा काम कराया जाता था और मारा-पीटा जाता था।
मछुआरों ने किसी तरह अपने मालिक की नाव चुरा ली और 10 दिनों तक 3000 किलोमीटर लंबा समुद्री सफर तय करने के बाद भारत पहुंच गए। कोच्चि तट से 75 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद भारतीय कोस्ट कार्ड के जवानों ने जब मछुवारों की नाव को रोका तो उन्होंने अधिकारियों को इसकी जानकारी दी। इस नाव के बारे में कोस्ट गार्ड के डॉर्नियर एयरक्राफ्ट को जानकारी मिली थी। बताया जाता है कि 13 दिसंबर 2018 को इन मछुआरों ने मछलियां पकडऩे के लिए तिरुवनंतपुरम का तट छोड़ा था। वह मछली पकडऩे के चक्कर में काफी आगे निकल आए और उन्हें यमन में कैद कर लिया गया। वह उन्हें नाव में रखता था और काफी काम कराता था। इन मछुआरों को दिनभर में केवल एक बार खाने को दिया जाता था। मछुआरों ने बताया कि उन्होंने जिस नाव को चुराया था उसमें प्याज और ईंधन और खाने पीने का कुछ सामान पहले से मौजूद था, जिसके कारण वह 3000 किलोमीटर का सफर तय कर सके।
मछुआरों के परिजनों को दी गई जानकारी पुलिस ने बताया कि इन मछुआरों को इमिग्रेशन की औपचारिकताएं पूरी करने के बाद ही परिजनों को सौंपा जाएगा। कोस्टल पुलिस अधिकारी ने बताया कि सभी मछुआरों के परिजनों को इसकी जानकारी दे दी गई है। सभी मछुआरों के परिजन शनिवार दोपहर तक कोच्चि पहुंच जाएंगे। अगर सबकुछ ठीक रहा तो उन्हें जल्द से जल्द रिहा कर दिया जाएगा।


गरीब सैकड़ों किसानों के लिए कौन उत्तरदायी

अरविंद सिसौदिया
नानौता। नानौता के ग्राम ठसका में रामपुरी राजवाहा टूटने से करीब सैंकडो बीघा गेहूं, गन्ना और सरसों की फसल जलमग्न होने से बर्बाद हो गई। राजवाहा टूटने से किसानों में विभागीय अधिकारियों के प्रति गुस्सा है। पीडित किसानों ने मुआवजे की मांग के साथ ही पटरी टूटने के स्थान को पक्की कराए जाने की मांग की है। 
ग्रामीणों रामपाल शर्मा, समयसिंह, भूषण सिंह, शेरसिंह, मुल्कीराज, साहबसिंह, जोनी, मुकेश, डा. तौफीक, रफीक, सफीक अहमद, सतेन्द्र, सतपाल, श्रवण, अशोक,रामकुमार आदि ने बताया कि राजवाहा टूटने से उनकी खडी फसलें गेहूं, सरसों, गन्ना, हल्दी, बरसीम की करीब 350 बीद्या से भी अधिक फसल बर्बाद हो चुकी है। जबकि राजवाहें की पटरी टूटने का मुख्य कारण नहर की सफाई के दौरान पटरी में सोरी (सुराख) होना बताया जा रहा है। किसानों का आरोप है कि विभागीय अधिकारियों एसडीओ व जेई को इस संबध में कई बार अवगत करा दिया गया है लेकिन कोई कारवाई नहीं हो पाई है। पीडितों ने जिला प्रशासन से उनकी नष्ट हुई फसलों का आंकलन कर उचित मुआवजा दिलाए जाने की मांग की है। इस संबध में सिंचाई विभाग के अधिकारियों का कहना है कि राजवाहें को बंद करा दिया गया है जल्द पटरी को ठीक कराया जाएगा।


नेपाल के भैरहवां मैं रक्तदान कार्यक्रम संपन्न

नेपाल, भैरहवां में रक्तदान कार्यक्रम संपन्न
भैरहवा। रुपन्देही जिले के भैरहवा सिद्धार्थ नगर पालिका वार्ड नंबर 4 हनुमान मंदिर प्रांगण में श्रीबुद्ध सामुदायिक सेवा समाज तथा सामुदायिक प्रहरी केंद्र 4,6,10, 11 द्वारा परिचयात्मक एवं रक्तदान कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम के प्रमुख अतिथि पुलिस वरिष्ठ उपनिरीक्षक मोहन आचार्य विशिष्ट अतिथि सामुदायिक अध्यक्ष नरेंद्र प्रसाद रौनियार रहे। प्रमुख अतिथि श्रीआचार्य ने कहा की विगत 13 वर्षों से लगातार बुद्ध सामुदायिक केंद्र के पदाधिकारी द्वारा समाज के प्रति निरन्तर दुख सुख के साथ 24 घंटा सेवा के साथ एक दूसरे की जान बचाने के लिए एक बड़ा कार्य रक्त देकर किया जा रहा है। उन्होने कहा रक्तदान एक ऐसा कार्य है, जिससे एक दूसरे की जान रक्त दान देकर बचाया जा सकता है।
समुदाय के अध्यक्ष नरेन्द्र प्रसाद रौनियार को मैं हृदय से धन्यवाद देना चाहता हूं, कि ऐसे नेक कार्य कर रहे हैं अपने लिए नहीं की दूसरो की जिंदगी बचाने के लिए मैं सामुदायिक के प्रति आभार प्रकट करते हैं।
कार्यक्रम में मुख्य रूप से वड़ा नंबर 4 अध्यक्ष भोला यादव मायादेवी चैरिटेबल अध्यक्ष रवि कुमार रौनियार ,वडा नंबर 6 अध्यक्ष विरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव , विजयनाथ धवल, रेडक्रश अध्यक्ष रुपन्देही दीपक क्षेत्री, विजया क्षेत्री, समाजसेवी मिलन बस्नेत, दुर्गा गुप्ता ,बि.एन .गुप्ता प्रितम रौनियार ,मनोज अग्रहरि ,गोपाल उपाध्याय ,शैलेश उपाध्याय, तालकेस्वर कांदू, पिपरहिया चौकी इंचार्ज डीबी थापा, त्रिलोकी प्रसाद गुप्ता, गणेश गुप्ता, शिव सागर जायसवाल, रविंद्र गुप्ता, एवम् कार्यक्रम संयोजक लक्ष्मण यादव एवम् कार्यक्रम संचालक सामुदायिक सचिव श्रीराम गुप्ता लगायत सैकड़ों कार्यकर्ता एवं समाजसेवी उपस्थित रहे।


15 घटिया तोड़कर 80 लीटर शराब बरामद

आबकारी विभाग ने तोड़ीं 15 भट्ठियां, 80 लीटर शराब बरामद, दो पर मुकदमा


पडरौना/कुशीनगर। डीईओ की अगुवाई में आबकारी विभाग की टीम ने भैसहां हेतिमपुर में कच्ची शराब के एक ठिकाने पर छापा मारा। वहां कच्ची शराब की 15 भट्ठियां तोड़ी गईं और 80 लीटर कच्ची शराब बरामद हुई। दो व्यक्तियों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया गया।
जिला आबकारी अधिकारी राजवीर सिंह ने बताया कि आबकारी विभाग और प्रवर्तन गोरखपुर की संयुक्त टीम ने भैसहा हेतिमपुर में कच्ची शराब की 15 भट्ठियां तोड़ीं। वहां से 80 लीटर कच्ची शराब बरामद किया। छह हजार किलोग्राम लहन भी बरामद किया गया। उन्होंने बताया कि कच्ची शराब के दो धंधेबाजों के खिलाफ आबकारी अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया गया है। इस छापेमारी में आबकारी निरीक्षक सत्येंद्र प्रताप, पीयूष विक्रम, आरक्षी विजय कुमार सोनकर, आशुतोष पाठक, जयप्रकाश आदि शामिल थे।


आवास विकास मंडोला विहार में भ्रष्टाचार

उत्तर प्रदेश आवास विकास परिषद के मंडोला विहार आवास योजना में फ्लाईओवर घोटाला


अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद। उत्तर-प्रदेश आवास विकास परिषद की मंडोला विहार आवासीय योजना में करीब 3 साल पहले आवास विकास परिषद के द्वारा एक पत्र दिया गया था। जिसमें गाजियाबाद से दिल्ली जाने वाली मास्टर प्लान 2021 रोड के लिए मंडोला में दिल्ली-सहारनपुर रोड को पार करने के लिए फ्लाईओवर का निर्माण करने की बात कही गई थी। इस रोड एवं फ्लाईओवर को बनाने का उद्देश्य गाजियाबाद से दिल्ली जाने वालों के लिए आवागमन की सुगम सुविधा उपलब्ध कराना था। मास्टर प्लान रोड एवं इस फ्लाईओवर का निर्माण कार्य गाजियाबाद के विकास कार्यों की सर्वोच्च प्राथमिकता मे थी।
अब से 3 साल पहले फ्लाईओवर का निर्माण कार्य शुरू हुआ, निर्माण शुरू होने के करीब 1 वर्ष बाद पांच परिवारों को पत्र दिया गया कि यह फ्लाईओवर उनकी आबादी जमीन और मकान के ऊपर से जाएगा। जबकि मास्टर प्लान 2021 के नक्शे में यह फ्लाईओवर दिल्ली-सहारनपुर रोड को बिल्कुल सीधा क्रॉस कर रहा है। परंतु भ्रष्टाचारी अधिकारियों के द्वारा इस फ्लाईओवर को खतरनाक अंग्रेजी के एस के आकार का मोड़ देकर 5,6अन्य परिवारों के मकान दुकान और आबादी से प्रभावित भूमि जिसमें करीब 100 से अधिक पेड़ों को उजाड़ कर और इनके  ऊपर से बनाने का पत्र संबंधित किसानों को दिया गया। इसके जवाब में संबंधित परिवारों ने संबंधित अधिकारियों को पत्राचार के माध्यम से जवाब दिया। जिस के क्रम में गाजियाबाद जिलाधिकारी के निर्देशानुसार उपजिलाधिकारी लोनी के साथ सभी प्रभावित परिवारों आवास विकास परिषद व राज्य सेतु निगम के उच्चाधिकारियों के साथ लोनी तहसील सभागार में एक मीटिंग हुई।
 इस मीटिंग में प्रभावित परिवारों के द्वारा सवाल जवाब करने पर राज्य सेतु निगम और आवास विकास के परिषद के अधिकारी कोई संतुष्टि जनक जवाब नहीं दे सके एवं अपने आप को फंसता हुआ, देखकर एक दूसरे पर आरोप लगाने लगे। उनकी हालत को देखकर उपजिलाधिकारी से पीड़ित किसानों ने स्वयं मौके पर जाकर निरीक्षण करने के लिए कहा। जिसमें अगले ही दिन उप जिलाधिकारी लोनी के द्वारा संबंधित निर्माणाधीन फ्लाईओवर का निरीक्षण किया गया एवं मौके पर इसे बेहद खतरनाक व भविष्य में जनहित के लिए गंभीर बताया परंतु एक महीने बाद उप जिलाधिकारी लोनी के द्वारा अपना बचाव करते हुए पटवारी महोदय से जो सर्वे रिपोर्ट कराई गई थी। उसी के आधार पर इस गंभीर समस्या का निस्तारण करने का प्रयास किया गया। जिसके बारे में जिलाधिकारी गाजियाबाद और पीड़ित परिवारों को अवगत करा दिया गया। इसके जवाब में पीड़ित परिवारों ने अपना जवाब जिलाधिकारी एवं उप जिलाधिकारी महोदय को कार्यालय में उपस्थित होकर अवगत कराया। जिसके जवाब में आवास विकास परिषद या प्रशासनिक अधिकारियों के द्वारा आज तक किसी प्रकार की कोई सूचना या कार्यवाही नहीं हुई है एवं तभी से इस फ्लाईओवर का निर्माण कार्य बंद है। निर्माण कार्य करने वाली राज्य सेतु निगम अपना बोरिया बिस्तर सामान उठाकर कभी का जा चुकी है निर्माण स्थल पर पढ़ा हुआ, करोड़ों का सामान जंग लगकर खराब हो चुका है।
 ₹53 करोड के इस घोटाले में ना तो कोई जनप्रतिनिधि ना ही कोई संबंधित अधिकारी और ना ही सत्ताधारी पार्टी का कोई कार्यकर्ता  जवाब देने के लिए तैयार है। 
अतः सभी जनप्रतिनिधियों नेताओं अधिकारियों एवं पत्रकार बंधुओं से निवेदन है कि जनहित के लिए इस फ्लाईओवर के संबंध में आवास विकास परिषद एवं संबंधित अधिकारियों से सिर्फ 2 सवाल पूछ ले। 
कि 
( 2 )जब मास्टर प्लान 2021 रोड का कहीं अता पता नहीं है तो अब से 3 साल पहले बिना किसानों की जमीन का अधिग्रहण किये मुआवजा दिए जमीन पर कब्जा लिए इस फ्लाईओवर को बनाने की शुरुआत क्यों की गई???
 ( 2 )जब 2 परिवारों की जमीन लेकर उन्हें मुआवजा या अन्यत्र जमीन देकर यह फ्लाईओवर सीधा बन सकता है तो फिर पांच अन्य परिवारों की जमीन लेकर उनके मकान दुकान और 100 से अधिक पेड़ उजाड़ कर इस फ्लाईओवर को खतरनाक अंग्रेजी के एस के आकार का क्यों बनाया जा रहा है।
अगर भविष्य में यह फ्लाईओवर इसी आकार में बना तो यह फ्लाईओवर मौत का फ्लाईओवर कहलाया जाएगा।


हादसे में छात्रा की मौत, सड़क पर लगाया जाम

सलीम अहमद
रामनगर। बेकाबू चैदह टायरा डंपर ने स्कूली छात्रा को कुचल कर मौत के घाट उतार दिया। जस्सा गाजा इंटर काॅलेज की गोबरा गांव निवासी दसवीं की साइकिल सवार छात्रा आईशा थापा पुत्री गणेश थापा को कालू सिद्ध गांव के पास बेलगाम डंपर ने पीछे से टक्कर मारकर कुचल दिया। जिससे छात्रा की मौके पर ही मौत हो गई। घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने डम्पर में आग लगा दी जबकि चालक डम्पर छोड़कर फरार हो गया।


छात्रा की निर्मम मौत से गुस्साए ग्रामीणों की घटना के बाद मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों से तीखी नोकझोंक हुई। और उन्होंने शव को सड़क पर रखकर जाम लगा रखा है। तनाव के मद्देनजर घटनास्थल पर भारी मात्रा में पुलिस बल लगा हुआ है। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस की उदासीनता के चलते क्षेत्र में खनन वाहनों से लगातार मौतें हो रही हैं। घटनास्थल पर अभी भी सैकड़ों की तादाद ग्रामीण मौजूद हैं। पीरूमदारा चैकी इंचार्ज कवेन्द्र शर्मा ने बताया कि लोगों ने अभी जाम लगाया हुआ है। लोगों को समझाने की कोशिशे जारी हैं।


शेयर बाजार में भारी उतार-चढ़ाव बरकरार

मुंबई। भारतीय शेयर बाजार में इस सप्ताह घरेलू व विदेशी कारकों से भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिला। इस दौरान प्रमुख संवेदी सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी ने नई बुलंदियों को छुआ, लेकिन देश के जीडीपी के आंकड़े कमजोर आने से सप्ताह के आखिरी सत्र में बाजार की तेजी पर ब्रेक लग गया और सेंसेक्स 41,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर के नीचे बंद हुआ, जबकि निफ्टी 12,000 के ऊपर रहा। हालांकि पिछले साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स और निफ्टी में एक फीसदी से ज्यादा बढ़त दर्ज की गई।
बंबई स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स शुक्रवार को पिछले सप्ताह के मुकाबले 434.40 अंकों यानी 1.08 फीसदी की तेजी के साथ 40,793.81 पर बंद हुआ। वहीं, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी 141.65 अंकों यानी 1.19 फीसदी की तेजी के साथ 12,056.05 पर बंद हुआ।
बीएसई मिड-कैप सूचकांक पिछले सप्ताह के मुकाबले 346.19 अंकों यानी 2.35 फीसदी की तेजी के साथ 15,084.86 पर बंद हुआ, जबकि बीएसई स्मॉल कैप सूचकांक 206.79 अंकों यानी 1.55 फीसदी की बढ़त के साथ 13,560.57 पर रहा। अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक मसलों को सुलझाने की दिशा में प्रगति की रिपोर्ट से उत्साहित विदेशी बाजारों से मिले मजबूत संकेतों से सप्ताह की शुरुआत में सोमवार को सेंसेक्स 529.82 अंकों यानी 1.31 फीसदी के उछाल के साथ 40,889.23 पर बंद हुआ और निफ्टी भी 164.60 अंकों यानी 1.38 फीसदी की तेजी के साथ 12,079 पर ठहरा।


हालांकि सप्ताह के दूसरे कारोबारी सत्र में मंगलवार को महाराष्ट्र के राजनीतिक घटनाक्रमों से बाजार पर विकवाली का दबाव दिखा, जिससे सेंसेक्स 67.93 अंक फिसलकर 40,821.30 रुका और निफ्टी भी 36.05 अंक नीचे फिसलकर 12,037.70 पर बंद हुआ। अगले सत्र में बुधवार को सेंसेक्स ने 41,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर चढ़कर 41,120.28 की नई उंचाई बनाई और निफ्टी भी 12,132.45 के रिकॉर्ड स्तर तक उछला। सेंसेक्स बुधवार को पिछले सत्र के मुकाबले 199.31 अंकों यानी 0.49 फीसदी की बढ़त के साथ 41,020.61 पर, जबकि निफ्टी 63 अंकों यानी 0.52 फीसदी की तेजी के साथ 12,100.70 पर बंद हुआ।
तेजी का यह सिलसिला गुरुवार को भी जारी रहा और सेंसेक्स 109.56 अंकों की तेजी के साथ रिकॉर्ड स्तर 41,130.17 पर बंद हुआ, जबकि सत्र के दौरान सेंसेक्स अब तक के सबसे ऊचे स्तर 41,163.79 को छुआ। निफ्टी भी 53 अंकों की बढ़त के साथ 12,154.30 पर बंद हुआ, जोकि अब तक का रिकॉर्ड क्लोजिंग स्तर है। जबकि निफ्टी कारोबार के दौरान 12,158.80 के सर्वाधिक स्तर तक उछला। सप्ताह के आखिरी सत्र में शुक्रवार को इस तेजी पर ब्रेक लग गया और सेंसक्स पिछले सत्र से 336.36 अंकों यानी 0.82 फीसदी फिसलकर 40,793.81 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 95.10 अंकों यानी 0.78 फीसदी फिसलकर 12,056.05 पर बंद हुआ।


वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी के आंकड़े खराब आने और विदेशी संकेत भी कमजोर मिलने के कारण आखिरी सत्र में शेयर बाजार में विकवाली का दबाव दिखा। दूसरी तिमाही में भारत की जीडीपी विकास दर 4.5 फीसदी रही, जोकि सात साल का सबसे निचला स्तर है।


तेजी से 7000 रन बनाने वाले बल्लेबाज स्मिथ

सबसे तेजी से 7000 टेस्ट रन बनाने वाले बल्लेबाज


एडिलेड। आस्ट्रेलिया के अनुभवी बल्लेबाज स्टीव स्मिथ सबसे तेजी से 7000 टेस्ट रन बनाने वाले बल्लेबाज बन गए हैं। स्मिथ ने पाकिस्तान के साथ यहां जारी दिन-रात के टेस्ट मैच के दूसरे दिन शनिवार को यह मुकाम हासिल किया।


स्मिथ ने 126 पारियों में 7000 टेस्ट रन पूरे किए। स्मिथ ने इस क्रम में 131 पारियों में इतने रन बनाने वाले इंग्लैंड के वॉली हेमंड को पीछे छोड़ा। भारत के वीरेंद्र सहवाग ने 134 पारियों में 7000 रन बनाए थे। इस क्रम में भारत के सचिन तेंदुलकर 136 चौथे स्थान पर हैं। गैरी सोबर्स कुमार संगकारा और विराट कोहली 138 पारियों के साथ संयुक्त रूप से पांचवें स्थान पर हैं।
स्मिथ अपने देश के महान बल्लेबाज डॉन ब्रैडमैन को पीछे छोड़ते हुए 7000 टेस्ट रन बनाने वाले 11वें आस्ट्रेलियाई बल्लेबाज बने। रिकी पोंटिंग ने 168 टेस्ट मैचों में आस्ट्रेलिया के लिए सबसे अधिक 13, 378 रन बनाए हैं। इसके बाद एलन बार्डर (11,174) और स्टीव वॉ (10,927) का स्थान है।


ऑस्ट्रेलिया के कप्तान के सर में चोट, बाहर

मेलबर्न। आस्ट्रेलिया की सीमित ओवरों की टीम के कप्तान एरॉन फिंच को शनिवार को शेफील्ड शील्ड मुकाबले के दौरान सिर पर चोट लगी। इस चोट के कारण फिंच को मैदान से बाहर जाना पड़ा। वेबसाइट क्रिकेट डॉट कॉम डॉट एयू के मुताबिक न्यू साउथ वेल्स के साथ एमसीजी मैदान पर हुए मैच के दौरान फिंच को कन्कशन के कारण मैदान से बाहर जाना पड़ा। ट्राविस डीन ने उनका स्थान लिया।
टीम डॉक्टर ट्रेवर जेम्स ने हालांकि फील्डिंग के दौरान सिर पर चोट लगने के बाद 33 साल के फिंच को खेलने की अनुमति दे दी थी लेकिन क्रिकेट विक्टोरिया ने कहा कि फिंच को बाद में लंच ब्रेक के दौरान डिलेड कन्कशन हुआ और इसके बाद वह मैदान में नहीं गए।
शेफील्ड शील्ड में कन्कशन सब्सीट्यूट रूल 2017 से ही लागू है। इसे हालांकि इस साल इंटरनेशनल क्रिकेट में लागू किया गया है। मार्नस लाबूशाने टेस्ट इतिहास के पहले कन्कशन बने थे। वह स्टीव स्मिथ के स्थान पर मैदान पर आए थे, जिन्हें एशेज सीरीज के दौरान जोफ्रा आर्चर की गेंद पर सिर पर चोट लगी थी।


अभिनेत्री अदा शर्मा के जोरदार एक्शन सीन

मुंबई। ऐक्ट्रेस अदा शर्मा अपनी आने वाली फिल्म कमांडो 3 में जोरदार ऐक्शन सीन करती दिखाई देंगी। उन्होंने बताया कि उनकी मां ने उन्हें डांस के अलावा मार्शल आर्ट की भी ट्रेनिंग दी है। उन्होंने बताया कि बचपन में ही उनका डांस के साथ ही फिजकल ट्रेनिंग की तरफ झुकाव था। अदा का कहना है कि डांस और ऐक्शन लगभग एक जैसे हैं क्योंकि दोनों में ही कोरियॉग्रफी की जरूरत पड़ती है। अदा ने कहा, मेरी मां ने मुझे केवल कथक ही नहीं बल्कि कलारिपयट्टू और मल्लखंब की भी ट्रेनिंग दी है। 
जब अदा से पूछा गया कि क्या कभी असल जिंदगी में उन्हें मार्शल आर्ट काम आई तो उन्होंने कहा, जब मैं सातवीं क्लास में थी तब अपने ट्यूशन से घर लौट रही थी। तब कुछ लड़कों ने मेरे ऊपर पत्थर फेंके। मैं मुड़ी और उनसे ऐसा नहीं करने के लिए कहा लेकिन वे नहीं माने। इसके बाद एक लड़का मेरे पास आकर बोला क्या करोगी? उस समय मेरे अंकल की सिखाई ताई ची याद आई और मैंने इसके मूव को बखूबी इस्तेमाल करते हुए उसके मुंह पर जड़ दिया। इसके बाद मैं तेजी से वहां से निकल गई।


फिल्म में अपने को-स्टार विद्युत जामवाल के बारे में उन्होंने कहा कि वे दोनों कमांडो 2 के दौरान अच्छे दोस्त बन गए थे। उन्होंने बताया कि वे दोनों फिटनेस और मार्शल आर्ट के बारे में अक्सर चर्चा करते रहते हैं। अदा ने कहा कि विद्युत की फिजिकल और मेंटल स्ट्रेंग्थ उन्हें काफी प्रेरित करती है।
अदा शर्मा ने बताया कि कमांडो 3 के लिए उन्होंने केवल अपनी कलारिपयट्टू ही नहीं बल्कि सिलम्बम की भी ट्रेनिंग ली है जो एक तमिल युद्ध कला है। इसके अलावा उन्होंने शार्प शूटिंग की भी ट्रेनिंग ली है। फिल्म में वह एक एनकाउंटर स्पेशलिस्ट की भूमिका मे दिखाई देंगी।


सरकार की नीतियों के विरोध में धरना-प्रदर्शन

इंदौर। केंद्र सरकार की नीतियों के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने इंदौर के भाजपा सांसद शंकर लालवानी के घर पहुंचकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। 'सीटी बजाओ, सांसद जगाओ' अभियान के तहत तय वक्त पर बड़ी संख्या में कांग्रेस कार्यकर्ता शंकर लालवानी के मनीषपुरी स्थित घर पर विरोध करने के लिए पहुंचे। यहां पुलिस ने घर के आसपास सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ाते हुए कांग्रेस कार्यकर्ताओं को घर से 500 मीटर की दूरी पर ही बैरिकेट्स लगाकर रोक दिया था, लेकिन इस दौरान विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने बैरिकेट्स तोड़ने की कोशिश की। इस वजह से पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच कहासुनी भी हुई। कांग्रेस कार्यकर्ता लगातार यही मांग कर रहे थे कि सांसद शंकर लालवानी उनसे मिलने के लिए आएं, लेकिन सांसद नहीं पहुंचे.
भाजपा और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच हुई नारेबाजी
जबकि सांसद शंकर लालवानी के पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी मोर्चा संभाल रखा था और वह हाथों फूल लेकर स्वागत के लिए खड़े थे। जब कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी शुरू की तो भाजपा कार्यकर्ता भी नारेबाजी पर उतर आए और करीब आधे घंटे तक दोनों तरफ से चलती रही नारेबाजी चलती रही। हालांकि जोरदार हंगामे के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने एसडीएम को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपकर विरोध प्रदर्शन खत्म कर दिया। कांग्रेस का आरोप है कि भाजपा के सभी सांसद राज्य के हित में कोई कदम नहीं उठा रहे हैं और केन्द्र सरकार भी राज्य सरकार का हिस्सा मार रही है। लिहाजा भाजपा सांसदों को नींद से जगाने के लिए विरोध प्रदर्शन किया गया है।
कांग्रेस नेता ने लगाया ये आरोप
स्‍थानीय कांग्रेस नेता देवेंद्र यादव के मुताबिक प्रदेश सरकार राज्य से साथ भेदभाव पूर्ण रवैया अपना रहा है. इस पर सांसद का भी ध्यान नहीं है, इसीलिए आज घंटे, ढोल और मंझीरे लेकर सांसद निवास पहुंचे, ताकि सांसद का ध्यान आकर्षित हो सके और बात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक पहुंच सके. जबकि भाजपा ने कांग्रेस के सभी आरोपों को निराधार बताते हुए राज्य सरकार पर निशाना साधा है।


रेप विरोधी प्रदर्शन कारियो पर बरसाए लाठी

नई दिल्ली। हैदराबाद में डॉक्टर के रेप और हत्या के विरोध में लोग सड़क पर उतर आये हैं। प्रदर्शन कर रहे लोगों को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ रहा है। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर लाठी भी चलाई। प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना है कि परसों जो डॉक्टर के साथ घटना हुई उसके आरोपियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए। बता दें कि सोशल मीडिया समेत देश में कई जगहों पर इस मुद्दे को लेकर प्रदरेशन हो रहे।


वेटनरी डॉक्टर रेप और मर्डर केस में बड़ा खुलासा


वेटनरी डॉक्टर के रेप और मर्डर केस में एक और खुलासा हुआ है। जानकारी के मुताबिक महिला डॉक्टर का रेप साजिश के तहत किया गया। पहले महिला का स्कूटर पंचर किया और उसके वापस लौटने के बाद पंचर बनाने का बहाना कर गैंगरेप किया और फिर मर्डर कर दिया। जानकारी के मुताबिक घर से शाम 5.50 बजे निकल कर टोंदुपल्ली टोल गेट पर शाम 6 बजे स्कूटर पार्क कर वहीं से गची बोली में अपने क्लीनिक के लिए कैब से निकली। इस बीच वहां खड़े एक ट्रक के साथ मौजूद चार लोगों ने यह साजिश रची। उसके वापस लौटने से पहले ही स्कूटर को पंक्चर कर दिया गया। जब वेटेरिनरी डॉक्टर वापस लौटी करीब 9 बजे तो उसने देखा कि स्कूटर फ्लैट है। ऐसे में उसे मदद कि ज़रूरत थी। उसने अपनी बहन को फोन कर बताया कि कुछ ट्रक वालों से उसे डर लग रहा है। इस बसी हाईवे पर युवती का मुंह बंद कर उसे ट्रक के पीछे ले जाया गया। वहीं पास में एक ग्राउंड है जहां उसे घसीट कर ले गए और इस घिनौने वारदात को अंजाम दिया। हैरानी वाली बात यह कि इस ग्राउंड में वॉचमैन का घर भी है लेकिन उसने भी इसे नोटिस नहीं किया।


तेलंगाना के गृहमंत्री का शर्मनाक बयान


महिला डॉक्टर की हत्या को लेकर तेलंगाना के गृहमंत्री ने बेहद शर्मनाक बयान दिया है। गृह मंत्री मोहम्‍मद महमूद अली ने कहा कि महिला डॉक्‍टर ने अपनी बहन की जगह पुलिस को फोन किया होता तो उसे बचाया जा सकता था। उन्होंने कहा, ''इस घटना से हम दुखी हैं। पुलिस सतर्क है और अपराध नियंत्रित कर रही है। यह दुर्भाग्‍यपूण है कि महिला डॉक्‍टर ने 100 नंबर की जगह अपनी बहन को फोन किया। अगर उन्‍होंने 100 नंबर पर कॉल किया होता तो उन्‍हें बचाया जा सकता था।''


एक और जली हुई लाश मिलने से मंची सनसनी


महिला डॉक्टर का शव मिलने के 24 घंटे के भीतर एक और महिला का अधजला शव बरामद हुआ है। डॉक्टर प्रियंका रेड्डी का गैंगरेप का मामला साइबराबाद पुलिस ने अभी सुलझाया ही था इस बीच हैदराबाद के शमसाबाद इलाके में ही और एक घटना सामने आई है, करीब 35 साल के एक महिला का जला हुआ शव बरामाद हुआ। महिला की पहचान अभी नहीं हो पाई है।


झारखंड विधानसभा चुनाव का पहला चरण

रांची। झारखंड विधानसभा चुनाव में पहले चरण में 13 सीटों पर शनिवार सुबह मतदान शुरू हो गया। चुनाव आयोग के अधिकारियों के अनुसार मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ और दोपहर तीन बजे तक चलेगा। प्रथम चरण में कुल 37,83,055 मतदाता 189 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला कर सकेंगे। इस चरण में 27-चतरा (एससी), 68-गुमला (एसटी), 69-बिशुनपुर (एसटी), 72-लोहरदगा (एसटी), 73-मनिका (एसटी), 74- लातेहार (एससी), 75-पांकी, 76-डाल्टेनगंज, 77-विश्रामपुर, 78-छत्तरपुर (एससी),79- हुसैनाबाद, 80- गढ़वा और 81-भवनाथपुर सीट के लिए कुल 189 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिनमें 174 पुरुष और 15 महिला उम्मीदवार हैं।


मुख्य निर्वाचन अधिकारी विनय कुमार चौबे ने कल संवाददाता सम्मेलन में बताया था कि पहले चरण में 13 सीटों के लिए 30 नवम्बर को होने वाले मतदान को लेकर सारी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।उन्होंने बताया था कि 4,892 मतदान केंद्रों पर 37,83,055 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इन मतदाताओं में 19,81,694 पुरुष, 18,01,356 महिला और 5 तीसरे लिंग के मतदाता हैं। मतदान में नए मतदाताओं (18-19 साल के) की कुल संख्या 1,05,822 है, जिनमें 57,687 पुरुष और 48,135 महिला मतदाता हैं।


दावेदारों के नाम पर आज शाम लगेगी मुहर

रायपुर। नगरीय निकाय चुनाव के लिए कांग्रेस से दावेदारों का नाम तय करने के लिए रविवार शाम तक का समय दिया गया है। प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया ने दोपहर 12 बजे तक सभी जिलों में बैठक करने कर शाम तक सभी सिंगल नाम पीसीसी को भेजने का निर्देश दिया है। इस संबंध में शहर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गिरीश दुबे ने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि कल रविवार को प्रदेश चुनाव समिति को नाम भेजे जाएंगे, दावेदारों के नामों पर अंतिम मुहर वही लगेगी। दुबे ने कहा कि यहां 12 ब्लॉक हैं, सभी में एक-एक प्रभारी बनाकर भेजे गए हैं। सभी प्रभारियों ने बैठक कर रिपोर्ट सौंप दी है। कल शुक्रवार को जिला चयन समिति की पहली बैठक हो चुकी है, जिसमें रूपरेखा तय की गई कि किस स्वरूप में टिकट का वितरण किया जाना है। आज शनिवार 5 बजे जिला चयन समिति की दूसरी बैठक हैं, जिसमें लगभग पैनल तय कर लिए जाएंगे। दुबे ने कहा कि बायोडाटा देने का विषय जहां तक है तो दावेदारों ने वार्ड में और ब्लॉक में बायोडाटा पहले दिया हुआ है। कांग्रेस में भीतरघात और निर्दलीय की कम संभावना है। शपथ और समर्थन की प्रक्रिया चल रही है। अनुशासन समिति व समन्वय समिति बनाई जाएगी। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देश पर हमने वार्ड स्तर पर कमेटी का गठन करके बैठकें करवा रहे हैं।


दुल्हन बनकर पकड़ा खूंखार अपराधी

भोपाल। मध्य प्रदेश के छतरपुर में एक महिला पुलिसकर्मी ने दुलहन बनकर एक खूंखार अपराधी को गिरफ्तार करवाने में मदद की। उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में हत्या, डकैती के 15 मामलों में फरार चल रहे खूंखार हत्यारोपी बालकिशन को मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। लेकिन खूंखार हत्यारोपी बालकिशन को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस को क्या-क्या जतन नहीं करने पड़े इसका उदाहरण मध्य प्रदेश के छतरपुर पेश हुआ। दरअसल, 10 हजार रुपए के इनामी गैंगस्टर बालकिशन को पकड़ने के लिए छतरपुर थाने में तैनात महिला सब-इंस्पेक्टर दुल्हन बनना का नाटक रचा।


मामाल मध्य प्रदेश के छतरपुर का है। नौगांव थाना पुलिस पिछले काफी समय से बालकिशन की तलाश कर रही थी, लेकिन वो पुलिस टीम के हाथ नहीं आ रहा था। इसको पकड़ने के लिए सब-इंस्पेक्टर माधवी अग्निहोत्री (28) को जिम्मेदारी सौंपी गई थी। जिसके बाद पुलिस ने चौबे को फेसबुक अकाउंट के जरिए ट्रैक करना शुरू किया। इतना ही नहीं सब-इंस्पेक्टर माधवी अग्निहोत्री ने किसी व्यक्ति के जरिए सलवार-सूट पहने हुए अपनी फोटो आरोपी के पास भिजवाई। फोटो देखने के बाद दोनों में बात-चीत शुरू हो गई।


सब-इंस्पेक्टर माधवी अग्निहोत्री ने 'राधा' बनकर बालकिशन चौबे से फोन पर तीन दिन बात की और अपने जाल में फंसा लिया। फोन पर बात-चीत के बाद बालकिशन ने 'राधा' के सामने शादी का प्रस्ताव रख दिया। चौबे ने उससे शादी से पहले एक बार मिलने के लिए कहा और यूपी-एमपी की सीमा पर एक गांव के मंदिर में मिलना तय हुआ। लेकिन बालकिशन को यह नहीं पता था कि गुरुवार को मंदिर में जिस राधा से मिलने वह पहुंचा था वह एक पुलिसकर्मी है। जब चौबे बाइक पर आया और गुलाबी सलवार-कुर्ता पहने एक महिला को देखकर उसकी तरफ बढ़ा। पहले से ही इंतजार कर रहे पुलिसकर्मियों ने फौरन उसे धर दबोचा। माधवी ने बताया, 'जैसे ही मैंने उससे कहा 'राधा आ गई' उसके होश उड़ गए।


बता दें कि पुलिस को चौबे की तलाश उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में हत्या और डकैती के 15 मामलों में थी। हर बार छत्तरपुर की पुलिस उसे गिरफ्तार करने के बेहद करीब पहुंच जाती थी लेकिन हर बार वह बच निकलता था। थाना प्रभारी बैजनाथ शर्मा ने बताया कि उत्तर प्रदेश के खमा गांव का रहने वाला है। यूनिवर्सिटी नैशनल चैंपियनशिप में माधवी को गोला-फेंक और दूसरी प्रतियोगिता में गोल्ड मिला था। माधवी ने बताया, 'मुझे पता चला कि वह हथियार चलाने से पहले कभी नहीं सोचता था। मुझे यह भी पता चला कि उसे महिलाओं में दिलचस्पी थी।'


मिलीभगत से श्रमिकों का हो रहा शोषण

बिलासपुर। शिवपुर पंचायत में खनिज न्यास मद से मांझी तालाब मे रिटर्न वाल निर्माण का काम चल रहा है। जहां पर मजदूरों को उसके मजदूरी सरकारी रेट नहीं बल्कि ठेकेदार द्वारा ₹150 पुरुष एवं ₹140 महिला मजदूर को मजदूरी दी जा रही है। मजदूरों द्वारा मजदूरी बढ़ाने की बात कही गई, तो ठेकेदार द्वारा धमकाते हुए कहा जा रहा है, कि काम करना है, तो करो नहीं, हमें अन्यत्र लेवर मिल जाएंगे गरीब मजदूर क्या करें, काम ना करें तो पेट कैसे जीवन चलेगा ,परिवार का पालन पोषण कैसे होगा। मांझी तलाव के रिटर्न वालों में काम करने वाले मजदूर शैलेंद्र पिता पुरुषोत्तम, भारत पिता मंगल, सरिता पिता बिसाहू राम, पुष्पा पिता प्रेमचंद, प्रेमचंद पिता मोहन साए एवं अन्य और मजदूर उस रिटर्न वालों में काम कर रहे हैं। रिटर्न वॉल निर्माण का काम पंचायत द्वारा अन्यत्र पंचायत सचिव सुनील जायसवाल द्वारा कराया जा रहा है । जिनका ऊपर राजनेताओं कर्मचारियों से अच्छे पकड़ है। इस बात के डर पर गरीब मजदूर शिकायत भी नहीं कर सकते। शिवपुर पंचायत, जिला मुख्यालय एवं जनपद मुख्यालय के आखरी छोर, बिलासपुर जिले से लगी होने के कारण, अधिकारी एवं नेताओं का आना जाना बहुत कम रहती है। जिसका फायदा ऐसे ठेकेदार मजदूरों की मजदूरी काटकर अपनी जेब गरम करने में लगे रहते हैं।


अमेरिका के बाद जापान से टू प्लस टू वार्ता

नई दिल्ली। भारत और जापान के बीच पहली रक्षा और विदेश मंत्री स्तर 2+2 वार्ता शनिवार को नई दिल्ली में होगी। यह वार्ता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बीच होने वाली वार्ता से पहले अहम है, जिसमें कई रणनीतिक सहयोग परियोजनाओं पर चर्चा होगी। विदेश मंत्रालय के मुताबिक यह बैठक अक्टूबर 2018 में जापान में आयोजित 13वें भारत-जापान वार्षिक शिखर सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी और प्रधानमंत्री आबे के बीच बनी रजमांदी की कड़ी है। द्विपक्षीय सुरक्षा और रक्षा सहयोग को अधिक गहरा बनाने के लिए दो मंत्री स्तर की यह संवाद प्रक्रिया स्थापित की जा रही है।


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर इस 2+2 वार्ता के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे, जबकि जापानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विदेश मंत्री तोशिमित्सु मोतेगी और रक्षा मंत्री ताओ कोनो करेंगे। विदेश मंत्रालय के मुताबिक इस बैठक में दोनों पक्षों के बीच रक्षा और सुरक्षा सहयोग को मजबूत करने पर चर्चा होगी ताकि भारत-जापान विशेष सामरिक और वैश्विक भागीदारी को अधिक गहराई दी जा सके। साथ ही दोनों देश भारत की एक्ट ईस्ट पॉलिसी और जापान के फ्री एंड ओपन इंडो-पैसिफिक विजन के तहत अपनी नीतियों का तालमेल बनाने का प्रयास करेंगे।


अमेरिका के बाद जापान दूसरा ऐसा देश है जिसके साथ भारत 2+2 वार्ता में साझेदार बना है। सरकारी सूत्रों के मुताबिक इस वार्ता में भारत और जापान के बीच नई रणनीतिक परियोजनाओं और साझेदारी की संभावनाएं तलाशने पर जोर होगा। खास तौर पर एशिया प्रशांत क्षेत्र में भारत और जापान की संयुक्त सहयोग परियोजनाओं पर भी बात चीत होगी।


शानदार एक्ट्रेस ड्रेस इसका क्या होता है

मुंबई। फिल्में समाज का आइना होती हैं लेकिन कई बार सिनेमा रियलिटी से दूर जाने का तरीका भी होता है। यही कारण है कि एक्टर्स कई फिल्मों में ऐसे शानदार परिधानों में दिखते हैं जिन्हें आम जिंदगी में कोई पहनने के बारे में शायद ही सोचता होगा। इनमें से ज्यादातर परिधान पीरियड फिल्मों के होते हैं लेकिन कई कमर्शियल फिल्मों में भी अजीबोगरीब फैशन सेंस होता है। वहीं, कई परिधान ऐसे भी होते हैं जिन्हें पहनने की चाह हर कोई रखता है लेकिन फिल्म की शूटिंग खत्म होने के बाद स्टार्स की इन ड्रेसेस के साथ आखिर होता क्या है?


यशराज फिल्म्स की स्टायलिस्ट आयशा खन्ना ने मिड डे के साथ बातचीत में बताया था कि इनमें से ज्यादातर कपड़ों को संभाल कर रख दिया जाता है और उन पर फिल्म के नाम का लेबल लगाया दिया जाता है. इसके बाद इन कपड़ों को मिक्स मैच करने के बाद जूनियर आर्टिस्ट्स के लिए इस्तेमाल भी किया जाता है और उसी प्रोडक्शन हाउस की दूसरी फिल्मों में इनका इस्तेमाल होता है। हालांकि इस दौरान इन कपड़ों पर सतर्कता से काम होता है ताकि दर्शकों को ये आभास ना हो कि इस ड्रेस को किसी और फिल्म में पहना गया है। हालांकि सभी कपड़ों के साथ ऐसा नहीं होता है और कई खास वेशभूषाओं को स्टार्स भी फिल्म से जुड़ी एक यादगार मेमोरी के लिए अपने पास रख लेते हैं। बॉलीवुड के कई स्टार्स हैं जो किसी फिल्म से खास लगाव होने के चलते फिल्म से जुड़े ड्रेस अपने पास रख लेते हैं।


हाइड्रोफोबिया के बावजूद अंडर वाटर एक्शन

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री रानी मुखर्जी इन दिनों आपनी आने वाली फिल्म 'मर्दानी 2' में बिजी हैं। इस फिल्म के लिए रानी ने अपने हाइड्रोफोबिया का मर्दानी अंदाज में सामना किया है। बहुत कम लोग यहां तक की रानी मुखर्जी के फैंस भी नहीं जानते होंगे कि रानी मुखर्जी को हाइड्रोफोबिया (पानी से डर) है। इसके बावजूद इस फिल्म के लिए रानी ने अंडरवाटर एक्शन दृश्यों की शूटिंग की। इसके लिए उन्हें अपने डर पर काबू पाने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ी। इस बारे में रानी ने कहा, “फिल्म में एक ऐसा दृश्य था, जिसके लिए मुझे पानी के अंदर एक्शन सीक्वेंस शूट करना था। गोपी ने स्क्रिप्ट पढ़ने के दौरान मुझे जब इसके बारे में पहली बार बताया तो मैं काफी घबरा गई थी, क्योंकि ईमानदारी से कहूं तो मुझे पानी से बहुत डर लगता है, क्योंकि मुझे तैरना नहीं आती है। बचपन से ही मैं पूल में उतरने से डरती हूं।”


अभिनेत्री ने आगे कहा, “मैंने अपनी जिंदगी में कई बार तैराकी सीखने की कोशिश की, लेकिन दुर्भाग्यवश मैं इसमें सफल नहीं रही। स्क्रिप्ट खत्म होने के बाद मैंने गोपी से पहली बार पूछा था कि अंडरवाटर सीक्वेंस कितना महत्वपूर्ण है, क्या यह फिल्म के लिए अनिवार्य है, या हम इसके बिना भी फिल्म कर सकते हैं। मुझे झटका देते हुए गोपी ने कहा कि इसे बदला नहीं जा सकता है और मैं इसे अंडरवाटर ही शूट करना चाहूंगा।” अपने इस डर पर जीत हासिल करने के अनुभव के बारे में रानी ने बताया, “मुझे मेरे स्वीमिंग कोच (अनीस अदेनवाला) ने बहुत अच्छी तरह से प्रशिक्षित किया, जो काफी शानदार था। उन्होंने पानी के प्रति मेरे डर को कम किया और मुझे अहसास हुआ कि अगर इस वक्त मैं हाइड्रोफोबिया से उबर नहीं पाई तो जीवन में कभी इससे बाहर नहीं आ पाऊंगी, और इस फिल्म ने मुझे अपने सबसे बड़े डर पर जीत हासिल कराने में मदद की।” आपको बता दें कि ये फिल्म 13 दिसंबर को रिलीज होने वाली है। फिल्म का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है जिसे सोशल मीडिया पर दर्शकों का काफी अच्छा रिस्पॉन्स मिला है।


अंतरराष्ट्रीय एड्स दिवस पर राष्ट्रीय समीक्षा

नई दिल्ली। सरकार के 2030 तक एड्स उन्मूलन के वादे को पूरा करने की दिशा में सराहनीय प्रगति तो हुई है। परन्तु नए एचआईवी संक्रमण दर में वांछित गिरावट नहीं आई है। जिससे कि आगामी 133 माह में एड्स उन्मूलन का स्वप्न साकार हो सके। इटरनेशनल एड्स सोसाइटी की संचालन समिति में एशिया पैसिफ़िक क्षेत्र के प्रतिनिधि और एड्स सोसाइटी ऑफ़ इंडिया के अध्यक्ष डॉ ईश्वर गिलाडा ने कहा कि "2020 तक, विश्व में नए एचआईवी संक्रमण दर और एड्स मृत्यु दर को 5 लाख से कम करने के लक्ष्य से हम अभी दूर हैं। 2018 में नए 17 लाख लोग एचआईवी संक्रमित हुए और 7.7 लाख लोग एड्स से मृत। दुनिया में 3.79 करोड़ लोग एचआईवी के साथ जीवित हैं। भारत में अनुमानित है कि 21.4 लाख लोग एचआईवी के साथ जीवित हैं, जिनमें से 13.45 लाख लोगों को जीवनरक्षक एंटीरेट्रोवायरल दवा प्राप्त हो रही है। एक साल में 88,000 नए लोग एचआईवी से संक्रमित हुए और 69,000 लोग एड्स से मृत।"


चेन्नई के वोलंटरी हेल्थ सर्विसेज़ अस्पताल के संक्रामक रोग केंद्र के निदेशक और एड्स सोसाइटी ऑफ़ इंडिया के महासचिव डॉ एन कुमारसामी ने कहा कि "भारत सरकार की राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 और संयुक्त राष्ट्र के एड्स कार्यक्रम (UNAIDS) दोनों के अनुसार, 2020 तक एचआईवी का 90-90-90 का लक्ष्य पूरा करना है: 2020 तक 90% एचआईवी पॉजिटिव लोगों को यह पता हो कि वे एचआईवी पॉजिटिव हैं; जो लोग एचआईवी पॉजिटिव चिन्हित हुए हैं उनमें से कम-से-कम  90% को एंटीरेट्रोवायरल दवा (एआरटी) मिल रही हो; और जिन लोगों को एआरटी दवा मिल रही है उनमें से कम-से-कम 90% लोगों में 'वायरल लोड' नगण्य हो. वायरल लोड नगण्य रहेगा तो एचआईवी संक्रमण के फैलने का खतरा भी नगण्य रहेगा, और व्यक्ति स्वस्थ रहेगा।"
डॉ गिलाडा ने बताया कि विश्व में 79% एचआईवी पॉजिटिव लोगों को एचआईवी टेस्ट सेवा मिली, जिनमें से 62% को एंटीरेट्रोवायरल दवा मिल रही है और 53% लोगों में 'वायरल लोड' नगण्य है। भारत में 79% एचआईवी पॉजिटिव लोगों को टेस्ट सेवा मिली, जिनमें से 71% लोगों को एंटीरेट्रोवायरल दवा भी मिल रही है। 90-90-90 के लक्ष्य की ओर प्रगति अधिक रफ़्तार से होनी चाहिए क्योंकि सिर्फ 13 माह शेष हैं।
डॉ गिलाडा ने कहा कि आज एचआईवी संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित अनेक नीति और कार्यक्रम हमें ज्ञात हैं। हमें यह भी पता है कि कैसे एचआईवी से संक्रमित व्यक्ति भी एक स्वस्थ और सामान्य जीवन जी सकते हैं। परन्तु जमीनी हकीकत भिन्न है। यदि हम प्रमाणित नीतियों और कार्यक्रमों को कार्यसाधकता के साथ लागू नहीं करेंगे तो 2030 तक एड्स-मुक्त कैसे होंगे?


एचआईवी पॉजिटिव लोगों में सबसे बड़ा मृत्यु का कारण क्यों हैं टीबी?
टीबी से बचाव मुमकिन है और इलाज भी संभव है। तब क्यों एचआईवी पॉजिटिव लोगों में टीबी सबसे बड़ा मृत्यु का कारण बना हुआ है?सीएनएस निदेशिका शोभा शुक्ला ने बताया कि 2018 में 15 लाख लोग टीबी से मृत हुए जिनमें से 2.5 लाख लोग एचआईवी से भी संक्रमित थे (2017 में 16 लाख लोग टीबी से मृत हुए जिनमें से 3 लाख लोग एचआईवी से संक्रमित थे)।


हर नया टीबी रोगी, पूर्व में लेटेंट टीबी से संक्रमित हुआ होता है। और हर नया लेटेंट टीबी से संक्रमित रोगी इस बात की पुष्टि करता है कि संक्रमण नियंत्रण निष्फल था जिसके कारणवश एक टीबी रोगी से टीबी बैक्टीरिया एक असंक्रमित व्यक्ति तक फैले। लेटेंट टीबी, यानि कि, व्यक्ति में टीबी बैकटीरिया तो है पर रोग नहीं उत्पन्न कर रहा है। इन लेटेंट टीबी से संक्रमित लोगों में से कुछ को टीबी रोग होने का ख़तरा रहता है। जिन लोगों को लेटेंट टीबी के साथ-साथ एचआईवी, मधुमेह, तम्बाकू धूम्रपान का नशा, या अन्य ख़तरा बढ़ाने वाले कारण भी होते हैं, उन लोगों में लेटेंट टीबी के टीबी रोग में परिवर्तित होने का ख़तरा बढ़ जाता है।


दुनिया की एक-चौथाई आबादी को लेटेंट टीबी है। पिछले 60 साल से अधिक समय से लेटेंट टीबी के सफ़ल उपचार हमें ज्ञात है पर यह सभी संक्रमित लोगों को मुहैया नहीं करवाया गया है।
 विश्व स्वास्थ्य संगठन की 2018 मार्गनिर्देशिका के अनुसार, लेटेन्ट टीबी उपचार हर एचआईवी संक्रमित व्यक्ति को मिले, फेफड़े के टीबी रोगी, जिसकी पक्की जांच हुई है, उनके हर परिवार सदस्य को मिले, और डायलिसिस आदि करवा रहे लोगों को भी दिया जाए।
संयुक्त राष्ट्र उच्च स्तरीय बैठक में सरकारों द्वारा पारित लेटेन्ट टीबी लक्ष्य इस प्रकार हैं: 2018-2022 तक 3 करोड़ को लेटेन्ट टीबी इलाज मिले (इनमें 60 लाख एचआईवी संक्रमित लोग हैं, और 2.4 करोड़ फेफड़े के टीबी रोगी - जिनकी पक्की जांच हुई है – के परिवार सदस्य (40 लाख 5 साल से कम उम्र के बच्चे और 2 करोड़ अन्य परिवार जन)।
2018 में 65 देशों में लेटेन्ट टीबी इलाज 18 लाख एचआईवी से संक्रमित लोगों को प्रदान किया गया (2017 में 10 लाख एचआईवी से संक्रमित लोगों को लेटेन्ट टीबी इलाज मिला था)। परन्तु वैश्विक लेटेन्ट टीबी इलाज का 61% तो सिर्फ एक ही देश - दक्षिण अफ्रीका - में प्रदान किया गया।
भारत में 2018 में, नए एचआईवी संक्रमित चिन्हित हुए लोगों (1.75 लाख) में से, सिर्फ 17% को लेटेन्ट टीबी इलाज मिल पाया (29,214)।
सीएनएस निदेशिका शोभा शुक्ला ने कहा कि "यह अत्यंत आवश्यक है कि एचआईवी से संक्रमित सभी लोगों को उनके संक्रमण के बारे में जानकारी हो, उन्हें एआरटी दवाएं मिल रही हों, और उनका वायरल लोड नगण्य रहे तथा वह टीबी से बचें, अन्यथा एचआईवी रोकधाम में जो प्रगति हुई है वो पलट सकती है, जो नि:संदेह अवांछनीय होगा।"


खाना बनाते समय फटा सिलेंडर, 4 की मौत

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के रामबन में खाना बनाते वक्त गैस सिलेंडर ब्लास्ट होने से मां व उसकी तीन बेटियों की मौत हो गई जबकि दो बच्चों समेत तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। घायलों की गंभीर हालत को देखते हुए इलाज के लिए कमांड अस्पताल उधमपुर भेजा गया है। ये 3 लोग अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच लड़ रहे हैं। वहीं घटना की जानकारी मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मामला दर्ज कर घटना के कारणों का पता लगाने का काम शुरू कर दिया है।


पुलिस द्वारा बताया गया कि एलजीपी गैस सिलेंडर में आग लगने से विस्फोट हो गया, जिसमें एक ही परिवार के 6 सदस्य और उनके रिश्तेदार चपेट में आ गए। इस हादसे में बलोट निवासी दर्शना देवी और उसकी तीन बेटियों की गंभीर रूप से जलने से मौत हो गई। हादसे में गंभीर रूप से झुलसे तीन लोगों को जम्मू के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायल होने वाले लोगों में मृतक महिला के 2 बेटे और एक रिश्तेदार शामिल है। परिवार का सिर्फ एक सदस्य यानी महिला का पति इस हादसे में बच गया क्योंकि वो घटना स्थल पर मौजूद नहीं था। बताया गया कि वह उसमय किसी शादी समारोह में शामिल होने गया था और वह घर पर नहीं था।


आतंक के खिलाफ, भारत-श्रीलंका प्रतिबद्ध

आतंक के खिलाफ भारत-श्रीलंका एक
नई दिल्ली। श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने भारत दौरे पर पीएम नरेंद्र मोदी से मुलाकात की है। इस दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने साझा प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि आतंकवाद के खिलाफ जंग में भारत का श्रीलंका को अटल समर्थन है। पीएम मोदी ने कहा कि यह स्वाभाविक है कि हम एक-दूसरे की सुरक्षा और चिंताओं को लेकर संवेदनशील रहें। उन्होंने कहा कि भारत ने हमेशा आतंकवाद का विरोध किया है। इसके लिए हमेशा अंतरराष्ट्रीय समुदाय से कार्रवाई की अपेक्षा की है। इस साल ईस्टर के मौके पर आतंकियों ने पूरी मानवता पर बर्बर हमला किया। आतंक के खिलाफ लड़ाई में भारत का सहयोग व्यक्त करने के लिए मैं श्रीलंका गया था। इसके साथ ही पीएम मोदी ने तमिल समुदाय का मुद्दा उठाते हुए कहा कि उम्मीद है कि गोटबाया तमिलों के सशक्तीकरण के लिए भी काम करेंगे।
भारत देगा 2865 करोड़ रुपए का कर्ज
श्रीलंका के राष्ट्रपति गौतबाया राजपक्षे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय बैठक की। प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त बयान में कहा कि श्रीलंका की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए 2865 करोड़ रुपए (400 मिलियन डालर) के कर्ज की सुविधा (लाइन ऑफ क्रेडिट) दी जाएगी। वहीं, पीएम मोदी ने कहा कि हम श्रीलंका को आतंकवाद से मुकाबला करने के लिए 358 करोड़ रुपए (50 मिलियन डालर) की मदद देंगे।


जर्मनी से शरण मांग रहे,उइगुर की तादाद दोगुनी

जर्मन! चीन में प्रताड़ना झेल रहे उइगुर बड़ी संख्या में जर्मनी से शरण मांग रहे हैं! पिछले साल के मुकाबले इस साल दोगुने से भी अधिक आवेदन किए गए हैं! जर्मनी में शरण के लिए आवेदन देने वाले चीन के उइगुर मुसलमानों की संख्या 2016 से ही लगातार बढ़ रही है! जर्मनी के सरकारी आंकड़े दिखाते हैं कि 2019 में पहले 10 महीनों में 149 उइगुरों ने शरण मांगी है! जबकि इसके पहले पूरे साल 2018 में इसके आधे से भी कम उइगुरों ने आवेदन किया था!


जर्मन सरकार का प्रवासी मामलों का मंत्रालय बीएएमएफ आवेदन करने वालों को यह तय करने देता है कि वे अपनी जाति आधारित जानकारी फॉर्म में भरना चाहते हैं या नहीं! इसलिए यह आंकड़ा केवल उन लोगों से जुड़ा है जिन्होंने इस बारे में स्पष्ट जानकारी भरी है और खुद को उइगुर बताया है!


जर्मनी में इस साल अक्टूबर तक कुल 803 चीनी नागरिकों ने शरण के लिए प्राथमिक आवेदन किया! जिन उइगुर लोगों ने जर्मनी में शरण मांगी थी उनमें से करीब 96 फीसदी लोगों का आवेदन स्वीकार भी कर लिया गया और सुरक्षा प्रदान की गई! किसी भी समुदाय विशेष से तुलना की जाए तो उइगुरों को शरण पाने में कहीं ज्यादा सफलता मिली! हाल ही में "चाइना केबल्स" कहे गए कुछ डॉक्यूमेंट लीक हुए थे जिनसे पता चला कि चीनी सरकार शिनजियांग प्रांत में उइगुर मुसलमानों समेत कई जातीय अल्पसंख्यकों को कैंपों में रख रही है! इन कैंपों में 10 लाख से ज्यादा लोगों को रखा गया है और इनमें ज्यादातर मुसलमान हैं! लीक हुए दस्तावेजों के मुताबिक लोगों को यहां जबरन वैचारिक और व्यावहारिक ज्ञान दिया जा रहा है! इन कैंपों का सारा कामकाज बहुत गोपनीय तरीके से चलता है!


चीन सरकार पर यह आरोप लग रहे हैं कि वह अल्पसंख्यक मुसलमानों को चीन के रंग ढंग में ढालने के लिए अभियान चला रही है! वहीं चीनी सरकार का कहना है कि ये कैंप दरअसल "वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर" हैं और देश से आतंकवाद एवं अलगाववाद को उखाड़ फेंकने के लिए बेहद जरूरी हैं!


चीन में करीब एक करोड़ उइगुर लोगों के रहने का अनुमान है! इनमें से ज्यादातर चीन के शिनजियांग प्रांत में ही बसे हैं! वे जातीय और सांस्कृतिक रूप से चीनी लोगों से ज्यादा तुर्की के मुसलमानों से जुड़े हैं! उइगुर समुदाय के कई लोग समय समय पर चीन के बहुसंख्यक हान मुसलमानों द्वारा सांस्कृतिक, आर्थिक और राजनीतिक रूप से दबाए जाने की शिकायत करते रहे हैं!


प्राणों की आहुति देने वालों को श्रद्धांजलि

अब्दुल सत्तार


भगवानपुर! देश उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू आज रुड़की पहुंचकर शहीद राजा विजय सिंह को श्रद्धांजलि दी! उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू भारतीय वायुसेना के विशेष विमान से देहरादून पहुंचे। उनका सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक,उच्च शिक्षा राज्य मंत्री धन सिंह रावत और मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने स्वागत किया।


इसके बाद उपराष्ट्रपति वहां से भगवानपुर के कुंजा बहादुरपुर गांव पहुंचे जहां उन्होंने प्रथम क्रांति में प्राणों की आहुति देने वाले राजा विजय सिंह और उनके सेनापति कल्याण सिंह की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।इसी दौरान उनके साथ सीएम त्रिवेंद्र रावत,राज्यपाल बेबी रानी मौर्य समेत कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।


इस दौरान उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कहा कि इस गांव के शहीदों को नमन करते हुए आशा करता हूं कि भावी पीढ़ी यहां से प्रेरणा लेगी।देश का नागरिक होने के नाते यहां का इतिहास सुनकर यहां आने के भाव जागे।उन्होंने कहा कि आज उन्हें यहां आने का अवसर मिला है।इसके लिए वे अपने को सौभाग्यशाली मानते हैं।


स्वतंत्रता संग्राम से तीन दशक पहले ही यहां के नागरिकों ने विजय सिंह के नेतृत्व में आजादी के लिए बलिदान दिया। उस समय एक हजार लोगों की सेना तैयार करना आसान नहीं था। अंग्रेजों ने जब यहां आक्रमण किया तो उस युद्ध में 40 ब्रिटिश और सैकड़ों यहां के सैनिक मारे गए राजा विजय सिंह को उपराष्ट्रपति ने श्रद्धांजलि दी और कहा यहां के सैनिकों और लोगों को नमन करना चाहता हूं। अंग्रेजों ने राजा विजय सिंह और सेनापति कल्याण सिंह को फांसी दी।आज जो हमें मानवाधिकारों का पाठ पढ़ा रहे हैं उनका इतिहास क्रूर रहा है।उपराष्ट्रपति ने कहा कि कुंजा बहादरपुर जैसे क्षेत्रों के जिक्र के बिना हमारा इतिहास अधूरा है।उन्होंने कहा कि वे यहां के इतिहास को नमन करते हैं और यहां की वीरगाथाएं इतिहास में होना जरूरी है।जिसे पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए।ताकि भावी पीढ़ी को प्रेरणा मिल सके।इसी दौरान उपराष्ट्रपति ने कहा कि बाहरवीं कक्षा तक पाठ्यक्रम अपनी मातृ भाषा में होना जरूरी है।


इस मौके पर राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत,रुड़की विधायक प्रदीप बत्रा,भगवानपुर विधायक ममता राकेश,खानपुर विधायक कुँवर प्रणव सिंह चेम्पियन आदि मौजूद रहे।


महिला जज को धमकी,12 वकीलों पर मामला

तिरुवंतपुरम! एक आरोपी की जमानत खारिज करने वाली एक महिला जज को यहां एक अदालत में कथित तौर पर धमकाने और उनका रास्ता बाधित करने के आरोपी 12 वकीलों के खिलाफ पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया। राज्य न्यायिक अधिकारी संघ इस मामले को केरल उच्च न्यायालय ले गया था, जहां उसने अदालत से तुरंत दखल देने और अधिकारियों के लिए निडर होकर काम करने का माहौल सुनिश्चित करने का अनुरोध किया।


पुलिस के एक अधिकारी ने शुक्रवार को बताया कि मजिस्ट्रेट की शिकायत पर त्रिवेंद्रम बार संघ के अध्यक्ष और सचिव समेत 12 वकीलों के खिलाफ लोक सेवक को कर्तव्य निर्वहन से रोकने के लिए आपराधिक बल प्रयोग समेत कई आरोपों में मामला दर्ज किया गया है। प्रथम श्रेणी की न्यायिक मजिस्ट्रेट दीपा मोहन ने कुछ वकीलों के 'उपद्रवी' बर्ताव के खिलाफ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट को लिखित में शिकायत दी।


इस शिकायत को पुलिस के पास भेजा गया। इस बीच, न्यायिक अधिकारी संघ ने घटना के बारे में केरल उच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल को शिकायत भेजी। इसमें कहा गया कि तिरुवनंतपुरम बार संघ के कुछ सदस्यों ने मजिस्ट्रेट को अपमानित किया जो गैरकानूनी तरीके से कैद में रखने, आपराधिक धमकी देने तथा सरकारी ड्यूटी निभाने में बाधा डालने के बराबर है। तिरुवनंतपुरम बार संघ अपने सदस्यों के खिलाफ शिकायत के विरोध में शुक्रवार को जिला अदालतों का बहिष्कार कर रहा है।


'मातोश्री' से ही प्रदेश की सत्ता चलाएंगे

मुंबई! महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे अपने घर 'मातोश्री' से ही प्रदेश की सत्ता चलाएंगे। ठाकरे परिवार का पांच दशक से ज्यादा पुराना घर सत्ता का केंद्र रहेगा। उद्धव अपने परिवार और सामान के साथ मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास मालाबार हिल्स स्थित 'वर्षा' नहीं शिफ्ट होंगे। हालांकि वह प्रमुख मीटिंग्स के लिए वहां आते-जाते रहेंगे।


60 के दशक में शिवसेना संस्थापक बाल ठाकरे अपने परिवार के साथ बांद्रा ईस्ट के कालानगर स्थित एक प्लॉट में शिफ्ट हुए थे। शिवसेना का जन्म 1966 में ठाकरे के दादर स्थित घर पर हुआ था, मगर बाद में बांद्रा स्थित यही प्लॉट आने वाले सालों में ताकत का केंद्र साबित हुआ।


बता दें कि 60 के दशक में कांग्रेस के मुख्यमंत्री वीपी नाईक ने अपने कार्यकाल के दौरान मीठी नदी के किनारे बांद्रा ईस्ट में कलाकारों और लेखकों की एक कॉलोनी बसाई थी। बाल ठाकरे को भी इस कॉलोनी में मार्मिक वीकली के संपादक के तौर पर एक प्लॉट मिला था। बाद में यहां तैयार हुए बंगले को बाल ठाकरे ने मातोश्री नाम दिया। शुरुआत में यह बंगला सिर्फ एक मंजिला था, बाद में इसमें दो मंजिलें और बनीं।


उद्धव ने औपचारिक तौर पर संभाला मुख्यमंत्री का कार्यभार
बता दें कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को औपचारिक रूप से अपना कार्यभार संभाल लिया है। शिवसेना अध्यक्ष ठाकरे ने गुरुवार की शाम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। उन्होंने रात में पहली कैबिनेट बैठक की अध्यक्षता की। ठाकरे शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के गठबंधन 'महा विकास आघाड़ी' की सरकार का नेतृत्व कर रहे हैं। ठाकरे के अलावा छह अन्य मंत्रियों ने भी शपथ ली, जिनमें शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के दो-दो नेता शामिल हैं।


राजनीति के अखाड़े मे असली दांव बाकी

सचिन विशौरिया


गाजियाबाद! उत्तर-प्रदेश की राजनीति में जिला गाजियाबाद एक बार फिर सुर्खियों में है! जहां जिला गाजियाबाद पहले ही अति संवेदनशील स्थान के रूप में अपनी पहचान बना चुका है! जिस पर एक फिल्म "जिला गाजियाबाद" प्रदर्शित हो चुकी है! वहीं राजनीतिक गलियारों में एक बार फिर चहल-कदमी देखने को मिल रही है! किस प्रकार से लोग पद के लालच में आदमी को खिलौना समझ, उसका लाभ उठाने का काम कर रहे हैं! किस प्रकार से जिला अध्यक्ष पद के लिए गाजियाबाद की सीट को होल्ड पर डालकर नंदकिशोर गुर्जर के ऊपर मुकदमा दर्ज कराया गया! क्योंकि नंदकिशोर गुर्जर ही वह कड़ी है, जो पिछली बार बसंत त्यागी के राह का रोड़ा साबित हुई थी! क्योंकि चुनाव प्रक्रिया के दौरान सबसे ज्यादा वोट नंदकिशोर गुर्जर को मिली थी! लेकिन फिर भी अपने संबंधों के चलते बड़े अधिकारियों से सांठगांठ कर सीट को पिछली बार भी होल्ड पर डलवा कर, यही खेल खेला गया था जो इस बार भी होना तय हैं! वर्तमान में जनपद की राजनीति में उत्पन्न विक्षोभ से राजनीति के अखाड़े में अभी भी आखरी दांव लगना बाकी है!


जिला अध्यक्ष पद होल्ड पर होना और विधायक पर मुकदमा दर्ज होना कहीं एक ही षड्यंत्र तो नहीं


जिला गाजियाबाद में जिला अध्यक्ष पद के लिए नामांकन के बाद क्षेत्रीय राजनीति अपने अपने राजनीतिक आकाओं के सामने सर झुकाने व हर तरह से सांठगांठ के चलते पद को पाने की चाह लिए सभी नेता लखनऊ के चक्कर काट चुके हैं वही इस खेमे में गुर्जर समाज के कई नेता ऐसे हैं जिन्हें विधायक नंदकिशोर गुर्जर का संरक्षण माना जाता है वहीं विधायक प्रतिनिधि का नामांकन करना भी इस बार सुर्खियों में रहा है!


क्यों विधायक नंदकिशोर गुर्जर जाना चाहते हैं जबरन जेल


मुकदमा पंजीकृत होने के बाद विधायक नंदकिशोर गुर्जर क्यों मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर जेल भेज देने की बात कह रहे हैं! जबकि प्रशासन जांच कर कार्रवाई की बात को बार-बार कह रहा है! लेकिन नंदकिशोर गुर्जर क्यों जेल जाना चाहते हैं? यह बात अभी क्षेत्रीय जनता की समझ से बाहर है! लेकिन राजनीतिज्ञों की अगर मानें तो नंदकिशोर गुर्जर की जान को बाहर खतरा बताया जा रहा है! जिस कारण वह अपने आप को जेल में ही सुरक्षित मान रहे हैं! क्योंकि शतरंज की बिसात पर पहली बाजी संगठन की ओर से नेता चल चुके हैं! ऐसे में "जिला अध्यक्ष" की कुर्सी को लेकर नंदकिशोर गुर्जर अपनी जान को खतरा बता रहे हैं! यह खतरा किससे है, यह बात तो वही जाने! लेकिन इतना तय है कि अगर क्षेत्रीय विधायक इतना बड़ा बयान दे रहे हैं, तो इसमें कहीं ना कहीं, कोई न कोई सच्चाई होगी! क्योंकि यह पहला वाक्य नहीं है,जब नन्द किशोर गुर्जर पर किसी भी प्रकार का खतरा मंडरा रहा हो, पहले भी उन पर राजनीतिक जानलेवा हमले हो चुके हैं!


विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने किस से बताया अपनी जान का खतरा


वैसे तो विधायक नंदकिशोर गुर्जर पर पहले भी जानलेवा हमले हो चुके हैं! लेकिन उन्होंने कभी इन बातों को इतनी गंभीरता नहीं लिया और ना ही इस प्रकार से बयान बाजी की! जाने क्यों इस बार विधायक अपनी जान को ज्यादा ही खतरा महसूस कर रहे हैं? वह भी अपनी पार्टी के नेताओं से! अगर नंदकिशोर गुर्जर की बातों को सच माना जाए, तो बसंत त्यागी व संगठन का एक नेता समेत जाट नेता से अपनी जान को खतरा बता रहे हैं! इस बात में कितनी सच्चाई है यह तो जांच के बाद ही पता चलेगा!


क्यों पार्टी के जिलाध्यक्ष रच रहे हैं नंदकिशोर गुर्जर के खिलाफ षड्यंत्र


लगातार कई सालों तक जिला गाजियाबाद में एक मुस्त राज करने के बाद जिला अध्यक्ष "बसंत त्यागी" को जब अपनी कुर्सी जाती हुई दिखी, तो उन्हें अपनी राह का सबसे बड़ा रोड़ा नंदकिशोर के खिलाफ षड्यंत्र रच, उनको जेल भिजवाने व नामांकन कर चुके है! प्रतिनिधि ललित शर्मा को भी इस षड्यंत्र में लेकर उनकी छवि को खराब करने में जेल भिजवाने के षड्यंत्र को जिला अध्यक्ष बसंत त्यागी रच रहे हैं! ऐसा विधायक नंदकिशोर गुर्जर का मानना है, क्योंकि पिछले चुनाव में भी षड्यंत्र के तहत बसंत त्यागी जिलाध्यक्ष पद के लिए सांठगांठ कर चुके हैं!


क्या जिलाध्यक्ष बनते ही बसंत त्यागी लेंगे नंदकिशोर से बदला?


संगठन लगभग 1 या 2 दिन में जिला अध्यक्ष पद कि, जिलों में अध्यक्षों की घोषणा करने ही वाला है! ऐसे में जिला गाजियाबाद के लोनी विधानसभा क्षेत्र मे चल रहा विवाद आगे क्या रंग लाएगा? यह तो समय ही बताएगा! लेकिन जिला अध्यक्ष बसंत त्यागी पर लगे, यह आरोप क्या संगठन में तूल पकड़ पाएंगे? यह तो राजनीतिक लोग ही जाने! परंतु यह एक बड़ा सवाल है कि क्या बसंत त्यागी जिला अध्यक्ष बनते ही नंदकिशोर से बदला लेंगे!


किस संगठन के बड़े नेता से है नंदकिशोर को खतरा?


राजनीतिक लोग यूं ही अपनी 'छवि को दागदार' नहीं करना चाहते! जब तक कोई बड़ा कारण सामने ना हो! विधायक नंदकिशोर गुर्जर के द्वारा संगठन के बड़े नेता सुनील बंसल का नाम बीच में लाकर, क्यों इस मामले को तूल देकर, अपनी राजनीति को खतरे में लाना चाहेंगे! जबकि कहीं ना कहीं अगर विधायक इस नाम का उपयोग कर रहे हैं, तो इसमें सच्चाई होगी कि सुनील बंसल ने विधानसभा चुनाव के दौरान किसी और से लोनी के टिकट के लिए नजराना ले लिया था! जिसको वापस करने के बाद वह लगातार नंदकिशोर गुर्जर से राजनीतिक द्वेष रखते हैं! इसलिए नंदकिशोर गुर्जर लगातार उनसे अपनी जान को खतरा बता रहे हैं! बताया जा रहा है कि इस मुकदमे को दर्ज कराने में भी सुनिल बंसल का ही नाम सामने आ रहा था!


वकीलों, व्यापारियों, सभासदों व किसान यूनियन क्यों है विधायक के समर्थन में


खाद्य अधिकारी आशुतोष सिंह द्वारा विधायक नंदकिशोर गुर्जर केे विरुद्ध पंजीकृत मुकदमा के बाद 'लोनी बार एसोसिएशन', लोनी व्यापार मंडल, भारतीय किसान यूनियन और नगर पालिका सभासद संगठन समेत ऐसे कई प्रतिनिधि मंडल विधायक नंदकिशोर गुर्जर के पक्ष में आए हैं! जिनका मानना यह है कि विधायक इस प्रकार का कोई कार्य नहीं करा सकते! लोनी व्यापार मंडल के अध्यक्ष रतन भाटी ने बताया कि आशुतोष सिंह खुद "भ्रष्ट अधिकारी" हैं! भ्रष्टाचार के मामले में निलंबित रहे हैं, ऐसे अधिकारी की बात को महत्व नहीं दिया जा सकता! क्योंकि वह लोनी के व्यापारियों को लगातार परेशान करने का कार्य कर रहे है, जिसकी शिकायत कई बार विधायक नंदकिशोर गुर्जर से की गई! इसलिए उनको बुला कर समझाया था, लेकिन एक अधिकारी अपनी ताकत का इस तरह से दुरुपयोग करेगा इस बात का अंदाजा उन्हें नहीं था!


इस पूरे वाक्य पर क्या कहते हैं नंदकिशोर गुर्जर


क्षेत्रीय विधायक नंदकिशोर गुर्जर से इस पूरे प्रकरण में चर्चा की गई, तो उन्होंने बताया कि वह जब विधायक बने भी नहीं थे! तभी से जनता की सेवा व भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़े होने की उनकी आदत ने, आज इस मोड़ पर लाकर खड़ा कर दिया है कि उनके पार्टी के नेता ही उनके खिलाफ षड्यंत्र रच रहे हैं! क्षेत्रीय जनता इस बात से बेहद खुश है कि भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए एक नेता उनके हक की लड़ाई लड़ रहा है! विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने यह भी बताया कि भ्रष्टाचार के खिलाफ हमेशा तत्पर जनता के लिए खड़े रहेंगे, "चाहे इसके लिए उनको जेल क्यों ना जाना पड़े"! वह मुकदमे में जेल जाने से डरते नहीं है, जनता की आवाज उठाने का हक उन्हें जनता ने दिया है! जो वह पूरा करने के लिए कटिबद्ध है, अधिकारी उन्हें जेल भेज दें! लेकिन वह लोनी की जनता को लूटने नहीं देंगे!


जानिए क्यों  उठा है जिला अध्यक्ष पद के लिए इतना बडा कदम


जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं कि जिलाध्यक्ष पर पहले भी कई गंभीर आरोप लग चुके हैं! जिसमें कई खुलासे भी हुए हैं! लेकिन भाजपा कार्यकर्ता भगवती तोमर ने जो उनके ऊपर मुकदमा दर्ज कराया है! वह मामला जांच में अभी तक खोला नहीं गया है! क्योंकि बसंत त्यागी सत्ताधारी पार्टी के जिलाध्यक्ष हैं! जैसे ही बसंत त्यागी इस पद पर से हटते हैं, तो उनके ऊपर जेल जाने की तलवार लटक जाएगी! सत्ता के दबाव में पुलिस सही कार्रवाई नहीं कर पा रही है! जिस कारण बसंत त्यागी हर दांव खेलकर अपनी कुर्सी बचाने में लगे हुए हैं! शायद भगवती तोमर मामले में जेल जाने का डर उन्हें सता रहा है!


पुलिस उपायुक्त-कप्तान तैयार करेगे,डेली-डायरी

राणा ओबराय
हरियाणा सरकार का नया आदेश, उपायुक्त एवं पुलिस कप्तान को तैयार रखनी होगी डेली डायरी
चण्डीगढ़! भाजपा की मंथन बैठकों में आए फीडबैक के बाद सरकार ने राज्य के सभी डीसी और एसपी को डेली डायरी लिखने के निर्देश दिए हैं। पूर्व मुख्यमंत्री बंसीलाल अपने राज में अधिकारियों से डेली डायरी लिखवाया करते थे। बता दें कि कुछ समय के लिए पूर्व सीएम ओमप्रकाश चौटाला ने भी यह काम कराया। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री रहें भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने भी अपनी सरकार के पहले कार्यकाल में दो से तीन साल तक अफसरों से डायरी लिखवाई, लेकिन तब यह काम डीसी या एसपी नहीं बल्कि जिला सूचना एवं जन संपर्क अधिकारी करते थे। बंसीलाल की सरकार में डीपीआइआरओ काफी पावरफुल थे। उन्हें एक कालम में डीसी की एसीआर तक लिखने की पावर थी। अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल की सरकार ने डीसी व एसपी को डेली डायरी लिखने को कहा है। डेली डायरी में अधिकारियों को यह दर्ज करना होगा कि उन्होंने दिन में कुल कितनी बैठकें की। बैठकों का ब्योरा भी इस डायरी में देना होगा।
उन्हें बताना होगा कि किस विभाग की बैठक ली गई, उसमें कौन आया और कौन नहीं आया। किन मुद्दों पर चर्चा होगी। कितने जनप्रतिनिधियों से हर रोज मिले। कितने लोग शिकायतें लेकर आए। कितने विकास कार्यों का अवलोन किया। डेली डायरी में विकास कार्यों की प्रगति रिपोर्ट भी दर्ज करनी होगी।
इस डायरी को मुख्यमंत्री मनोहर लाल या डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला किसी भी समय देख सकते हैं। फील्ड में दौरे के दौरान अधिकारियों को यह डायरी अपने पास रखनी होगी।


बर्थ कंट्रोल के लिए छोटा डिवाइस विकसित

सिडनी! ज्यादातर महिलाएं अनचाहे गर्भ से बचने के लिए गर्भनिरोधक गोलियां लेती हैं! अनचाहे गर्भ से बचने के लिए ये गोलियां लेना सबसे आसान उपाय है! पर एक तरफ जहां इन गोलियों के कुछ साइड इफेक्ट भी होते हैं वहीं इन्हें खाना याद रखना भी एक बड़ा काम बन जाता है! अगर आपको गलती से दवा खाना नहीं याद रहा तो इससे अनचाहा गर्भ हो सकता है, जिससे आपको कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं! पर महिलाओं को अब इन समस्याओं से जल्द ही निजात मिल सकेगी! वैज्ञानिकों ने गर्भनिरोधक गोलियों का एक अच्छा विकल्प निकाला है!


वैज्ञानिकों ने एक ऐसा कॉन्ट्रासेप्टिव पैच निकाला है जो ठीक कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स की तरह ही काम करता है! ये पैच त्वचा से चिपक जाता है और धीरे-धीरे 30 दिनों तक महिलाओं के खून में एक कॉन्ट्रासेप्टिव ड्रग छोड़ता है! छोटे से आकार के इस डिवाइस में छोटी-छोटी कुछ सुइयां लगी हैं जो स्किन पर लगते ही कॉन्ट्रासेप्टिव निकालना शुरु कर देती हैं! जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों ने इसका प्रयोग सबसे पहले चूहों पर किया था जिसे पूरी तरह से सुरक्षित पाया गया! इसके बाद ये परीक्षण महिलाओं पर किया गया, जिसके सकारात्मक परिणाम मिले! जिन 10 महिलाओं पर इसका प्रयोग किया गया था, उनमें से किसी ने ये शिकायत नहीं की कि पैच लगाने से उनको किसी तरह का कोई नुकसान पहुंचा है!


केमिकल और बायोमॉलेक्युलर इंजीनियरिंग के प्रोफेसर मार्क प्रुस्निट्ज सहित दूसरे शोधकर्ताओं का भी यही कहना था कि ये कॉन्ट्रासेप्टिव पैच उन महिलाओं के लिए एक गेम-चेंजर हो सकता है, जो रोज दवा ले-लेकर थक चुकी हैं!ज्यादातर महिलाएं तो सही समय पर गर्भनिरोधक गोलियां ही नहीं लेती हैं, जिससे इन गोलियों का असर वैसे भी कम हो जाता है! इन्ही वजहों से लंबे समय तक चलने वाले गर्भनिरोधक पैच को गाइनैकॉलजिस्ट ने भी मंजूरी दे दी है! स्किन की बनावट पतली होती है जिसमें सूइयां आसानी से चली जाती हैं, जिसकी वजह से ही कॉन्ट्रासेप्टिव पैच के नीचे सूइयां लगाई गईं हैं!


सिडनी विश्वविद्यालय में प्रोफेसर और पीडियाट्रिक्स रेचल स्किनर का कहना है कि 'माइक्रोनीडल पैच से लोगों तक आम और एक जरूरी दवा पहुंच सकेगी'! ये विशेष रूप से युवा महिलाओं और कम आय वाले देशों की महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है, जहां महिलाओं को आसानी से गर्भनिरोधक नहीं मिल पाता!



100 दिन तक 9 घंटे सोने पर 1 लाख रूपये

100 दिन तक सोने की नौकरी, भारतीय स्टार्टअप ने ऑफर की 1 लाख रुपये सैलरी


बेंगलुरु! अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा स्पेस स्टडी के तहत दो महीने सोने के लिए 14 लाख रुपये देती है! अब कुछ ऐसा ही भारत  में शुरू होने को है! कर्नाटक स्थित बेंगलुरु की एक ऑनलाइन फर्म वेकफिट ने कहा है कि वह 100 दिनों तक हर रोज रात में 9 घंटे सोने वाले शख्स को 1 लाख रुपये देगी! ऑनलाइन स्लीप सॉल्यूशन फर्म ने अपने इस प्रोग्राम को वेकफिट स्लीप इंटर्नशिप का नाम दिया है! जहां सेलेक्ट किए गए कैंडिडेट्स को 100 दिन तक रात को 9 घंटे सोना होगा!


सेलेक्टेड कैंडिडेट्स कंपनी के गद्दे पर सोएंगेे! इसके साथ ही वे स्लीप ट्रैकर और विशेषज्ञों के साथ काउंसलिंग सेशन में भाग भी लेंगे! हालांकि जो लोग इस इंटर्नशिप प्रोग्राम में शॉर्टलिस्ट होंगे उन्हें कंपनी को वीडियो भेजना होगा जिसमें उन्हें यह बताना होगा कि नींद उन्हें कितनी अच्छी लगती है!


स्लीप ट्रैकर का भी होगा इस्तेमाल


इस प्रक्रिया में एक स्लीप ट्रैकर का भी इस्तेमाल होगा जो इंटर्नशिप के लिए दिए गए गद्दे पर सोने जाने से पहले और सोने के बाद का पैटर्न रिकॉर्ड करेगा! विजेताओं को यह स्लीप ट्रैकर भी दिया जाएगा! bestmediainfo.com के अनुसार कंपनी के निदेशक और को-फाउंडर चैतन्य रामलिंगगौड़ा ने इस बारे में कहा है कि एक स्लीप सॉल्यूशन कंपनी के तौर पर हमारी पहली कोशिश है कि हम लोगों को सोने के लिए प्रेरित कर सकें! एक ओर हमारी जिन्दगी फास्ट लेन पर चल रही है तो दूसरी ओर कम नींद हमारे स्वास्थ्य पर असर डाल रही है! साथ ही इससे हमारे लाइफ की क्वालिटी भी कम हो रही है!


एक रात के लिए ₹66 मे होटल का कमरा

एक होटल ऐसा भी जिसकी कीमत केवल 66 रूपए,


फूकोका! जापान में एक होटल सिर्फ 100 येन यानी 66 रुपये की कीमत पर एक रात के लिए कमरा उपलब्ध करा रहा है! हालांकि कमरे को इतनी कम कीमत पर देने के पीछे एक दिलचस्प पहलू भी है! दरअसल इस रूम में रुकने वाले को सस्ते रूम की कीमत अपनी प्राइवेसी से चुकानी पड़ती है! फूकोका की रहने वालीं असाई र्योकन मेहमानों को रूम नंबर 8 एक रात के लिए सिर्फ 100 येन यानी 66 रुपये की कीमत पर देती हैं! हालांकि इसके बदले रूम में रुकने वाले को कमरे में रहने के दौरान सबकुछ लाइवस्ट्रीम करवाना पड़ता है!


दरअसल, ये डील मेहमानों के आगे साल भर रहती है! इस रूम में रुकने वाले को फोल्ड होने वाली चटाई, टीवी और एक छोटा सा कॉफी टेबल दिया जाता है! कमरे के बीचोंबीच एक टैबलेट रखा रहता है, जिसमें लगा कैमरा हर जगह नजर रखता है! इस कैमरे में जो कुछ दिखता है वह सीधे तौर पर होटल के यूट्यूब चैनल 'वन डॉलर होटल' पर लाइवस्ट्रीम हो जाता है! खाश बात ये है कि कमरे में रुकने वाले को लाइट बंद करने की इजाजत रहती है! साथ ही केवल वीडियो लाइव किया जाता है, ऑडियो नहीं! यानी फोन कॉल और बातचीत प्राइवेट ही रहती है! इसके अलावा बाथरूम भी कैमरे की सीमा से बाहर है!


मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक लाइवस्ट्रीम करने का आइडिया 27 वर्षीय तेतसुआ इनोउ को आया था, जिनकी दादी का यह होटल है! इस आइडिया के पीछे की कहनी भी दिलचस्प है. तेतसुआ को यह आइडिया तब आया जब एक ब्रिटिश यूट्यूबर इस होटल में रुका था और उसने इस दौरान सबकुछ लाइवस्ट्रीम किया था! तेतसुआआ का कहना है कि यह एक बहुत ही पुराना होटल है और मुझे इसके लिए एक नए बिजनेस मॉडल की तलाश थी! हम एक सस्ता होटल तो चाहते थे, लेकिन एक ऐसा होटल भी चाहते थे जिसकी हर जगह चर्चा हो!


एयर हॉस्टेस का काम करती है 'स्वाति कोविंद'

नई दिल्ली! रामनाथ कोविन्द का जन्म उत्तर प्रदेश के कानपुर जिला (वर्तमान में कानपुर देहात जिला) की तहसील डेरापुर, कानपुर देहात के एक छोटे से गाँव परौंख में हुआ था। कोविन्द का सम्बन्ध कोरी (कोली) जाति से है जो उत्तर प्रदेश में अनुसूचित जाति, गुजरात में अनुसूचित जनजाति एवम् उड़ीसा में अनुसूचित जनजाति आती है। वकालत की उपाधि लेने के पश्चात उन्होने दिल्ली उच्च न्यायालय में वकालत प्रारम्भ की। वह 1977 से 1979 तक दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्र सरकार के वकील रहे। 8 अगस्त 2014 को बिहार के राज्यपाल के पद पर उनकी नियुक्ति हुई। उन्होनें संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा भी तीसरे प्रयास में ही पास कर ली थी।


हम आपको भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की बेटी के बारे में बताने जा रहे हैं उनकी बेटी ऐसा काम करती है जिसे शायद आप जानकर बहुत ही आश्चर्य महसूस करे!


जी हां हम बात कर रहे हैं रामनाथ कोविंद की बेटी स्वाति कोविंद इंडियन एयरलाइंस में एयर हॉस्टेस है ।और वह लंबे रूट पर जाती है अमेरिका फ्रांस रूस तक उनकी प्लेंन जाती है और वह अपने काम में ही मन लगाकर रखती हैं।उन्होंने कभी भी अपने पिता का नाम लेकर कोई बड़ी जॉब के लिए आवेदन नहीं किया वह अपने काम में कुछ है और उनका कहना है कि उनके पिता हमेशा से यह कहते थे कि इंडिपेंडेंट बनना चाहिए। जिसके कारण वह इंडियन एयरलाइंस में जॉब पाने में कामयाब रही और वह अपनी जॉब से काफी संतुष्ट है उन्होंने कभी भी अपने पिता का नाम लेकर कोई बड़ी लाइम लाइट में नहीं आई।


पुल से गिरी पिकअप वैन, सात लोगो की मौत

धुले! उत्तर महाराष्ट्र के धुले तहसील में एक पिकअप वैन के पुल से नीचे नदी में गिर जाने के कारण सात लोगों की मौत हो गई है। वहीं 20 लोग घायल हो गए हैं। यह जानकारी शनिवार को पुलिस ने दी। यह घटना धुले-सोलापुर रोड के पास स्थित विंचूर गांव में घटित हुई। घटनास्थल पर राहत एवं बचाव का कार्य जारी है। घायलों को अस्पताल ले जाया गया है। घटना को लेकर ज्यादा जानकारी जुटाई जा रही है।


गस्ती विमानों की छठी स्क्वाड्रन शामिल

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना ने शुक्रवार को गुजरात के पोरबंदर शहर में डोर्नियर गश्ती विमानों की छठी स्क्वाड्रन को शामिल कर लिया। पाकिस्तान से लगती सीमा के करीब बेहद अहम सामरिक स्थिति वाले इस क्षेत्र में इन विमानों की तैनाती से तटीय सुरक्षा को नई मजबूती मिलेगी। इस स्क्वाड्रन की तैनाती के बाद अब भारतीय नौसेना यहां के समुद्री क्षेत्र में पाकिस्तान की छोटी से छोटी गतिविधि पर आसानी से नजर रख सकेगी। डिप्टी चीफ ऑफ नेवल स्टाफ वाइस-एडमिरल एमएस पवार ने डोर्नियर विमानों की इस नई स्क्वाड्रन को नौसेना में शामिल किया। 'रैप्टर' के नाम से मशहूर भारतीय नौसेना एयर स्क्वाड्रन 314 अब चार अगली पीढ़ी के डोर्नियर विमानों के साथ संचालित होगी। इन्हें शामिल करते हुए वाइस-एडमिरल पवार ने कहा, उत्तरी अरब सागर में समुद्री सुरक्षा को मजबूत करने और निगरानी को बढ़ाने के हमारे प्रयासों में आईएनएएस 314 को शामिल करना एक और मील का पत्थर है।


उन्होंने कहा, अपनी रणनीतिक स्थिति के कारण यह स्क्वाड्रन इस अहम क्षेत्र में किसी भी गतिविधि का सबसे पहले जवाब देगा। नौसेना की तरफ से जारी बयान में बताया गया कि आईएनएएस 314 स्क्वाड्र की कमांड कैप्टन संदीप राय के हाथ में रहेगी, जो विभिन्न जटिल अभियानों के मामले में बेहद अनुभवी है और डोर्नियर क्वालिफाइड नेविगेशन इंस्ट्रक्टर हैं।


कानपुर में तैयार हुए हैं ये डोर्नियर विमान


नौसेना के मुताबिक, स्क्वाड्रन में शामिल किए गए मल्टी-रोल एसआरएमआर (कम दूरी के समुद्री टोही) विमान हैं। दोहरे टर्बोप्रॉप इंजन के साथ संचालित इन विमानों का निर्माण हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) की कानपुर इकाई में किया गया है। नेवी ने 'मेक इन इंडिया' अभियान के तहत एचएएल को 12 डोर्नियर विमानों की खरीद का ऑर्डर दिया था, जिनमें से चार विमानों की यह पहली खेप पहुंच गई है। अभी 8 ऐसे विमान और नेवी को दिए जाएंगे। इन विमानों में अत्याधुनिक सेंसर व उपकरण लगाए गए हैं, जिनमें ग्लास कॉकपिट, एडवांस सर्विलांस राडार, ऑप्टिकल सेंसर और नेटवर्किंग से जुड़े एडवांस फीचर शामिल हैं।


153 देशों की जीडीपी, आरआईएल से कम

नई दिल्ली । रिलायंस इंइंडस्ट्रीज का मार्केट कैप गुरुवार को 10 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा हो गया। पिछले 30 साल में कंपनी की मार्केट वैल्यू में 60 हजार प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। पिछले तीन दशकों में कंपनी पहले यार्न मैन्युफैक्चरर से एनर्जी जायंट (तेल-गैस क्षेत्र की दिग्गज कंपनी) बनी और उसके बाद वह डिजिटल और रिटेल सेगमेंट में लीडर बन गई। कंपनी पर निवेशकों का भरोसा बना हुआ है और उन्होंने उसे लगातार समर्थन दिया है। इसी वजह से जनवरी 1991 के बाद से कंपनी के वैल्यूएशन में 60,742 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई। भारत की जीडीपी से मुकाबला करें तो यह करीब 5.26 फीसदी है। भारत की कुल जीडीपी 190 लाख करोड़ रुपए है। विश्व में 153 ऐसे देश हैं, जिनकी जीडीपी आरआईएल से कम है। पिछले 30 सालों में कंपनी की मार्केट वैल्यू में 60 हजार प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है। अभी रिलायंस इंडस्ट्रीज को लंबा सफर तय करना है। मार्केट कैप के लिहाज से विश्व में यह टॉप-10 कंपनियों में नौवें स्थान पर है। वैल्यू की लिहाज से सऊदी अरामको 1700 अरब डॉलर के साथ विश्व की सबसे बड़ी कंपनी है। दूसरे नंबर पर ऐपल है जिसकी वैल्यू 1190 अरब डॉलर है, तीसरे नंबर पर माइक्रोसॉफ्ट है जिसकी वैल्यू 1162 अरब डॉलर है। नौवें नंबर पर रिलायंस इंडस्ट्रीज का मार्केट कैप 140 अरब डॉलर है।


पतंजलि को कर्ज से एसबीआई का इनकार

मुंबई। योगगुरु बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद के द्वारा रुचि सोया डील में एक नई उलझन खड़ी हो गई है। पतंजलि आयुर्वेद इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (आईबीसी) के तहत 4,350 करोड़ रुपये में ऐडिबल ऑयल कंपनी रुचि सोया को खरीदने की राह में बाधा खड़ी हो गई है क्योंकि एसबीआई ने इसके लिए अकेले कर्ज देने से इनकार कर दिया है। उसने कहा है कि इस डील से जिन दूसरे कर्जदाताओं को लाभ होगा, वे भी कर्ज देने में हाथ बंटाएं। रुचि सोया को खरीदने के लिए पतंजलि ने 3,700 करोड़ रुपये कर्ज लेने की योजना बनाई है, जबकि 600 करोड़ रुपये उसने अपनी तरफ से लगाने की बात कही थी। यह जानकारी अगस्त में पतंजलि की तरफ से सौंपे गए रिजॉल्यूशन प्लान से मिली है। रुचि सोया में एसबीआई का सबसे अधिक 1,800 करोड़ रुपये फंसा हुआ है। इसलिए रिजॉल्यूशन प्लान से सबसे अधिक लाभ भी उसे ही होगा। हालांकि, उसके हालिया रुख के बाद अब रिजॉल्यूशन प्लान के सफल होने पर संदेह जताया जा रहा है। बैंक के एक सीनियर अफसर ने बताया, 'हमने फैसला किया है कि रिजॉल्यूशन प्लान से जिन बैंकों को जितने का फायदा होगा, वे उसी अनुपात में कंपनी को खरीदने के लिए कर्ज दें। हम अकेले पूरा कर्ज नहीं दे सकते। पतंजलि बहुराष्ट्रीय कंपनी नहीं है। उसकी वित्तीय स्थिति के बारे में बहुत कम जानकारी उपलब्ध है। हम उसे कर्ज देने को लेकर बहुत सहज नहीं हैं और अकेले यह जोखिम नहीं उठा सकते। हर किसी को इसमें हाथ बंटाना चाहिए।' रुचि सोया से सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया को 816 करोड़, पंजाब नेशनल बैंक को 743 करोड़, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक को 608 करोड़, डीबीएस को 243 करोड़ रुपये वसूलने हैं। पतंजलि ने एडिबल ऑयल कंपनी को खरीदने की खातिर कर्ज लेने के लिए ज्यादातर सरकारी बैंकों से संपर्क किया है। हालांकि, बैंक अब उसे और कर्ज देने में आनाकानी कर रहे हैं।
सरकारी बैंक के एक अधिकारी ने बताया, 'एसबीआई इस सौदे के लिए दूसरे बैंकों को कर्ज देने पर मजबूर नहीं कर सकता। यह यह कमर्शियल डिसिजन है। हर बैंक अपने हित देखकर फैसला करेगा। वे दिन गए, जब दूसरे बैंक एसबीआई जैसे लीड बैंक को देखकर फैसला लेते थे और बैंक मिलकर कर्ज देते थे। अब हर कोई अपना फैसला ले रहा है। पतंजलि को रुचि सोया की बोली लगाते वक्त ही फंडिंग का इंतजाम करना था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। अगर सौदे पर बात नहीं बनती तो बैंक कंपनी की तरफ से दी गई गारंटी भुनाने की सोच सकते हैं।' इस साल अक्टूबर में केयर और इकरा ने पतंजलि की रेटिंग घटाई थी। इस वजह से भी बैंकों की उसे कर्ज देने में दिलचस्पी घटी है। हालांकि, सारे बैंक उसे कर्ज देने के विरोधी नहीं हैं। एक अन्य सरकारी बैंक के अधिकारी ने बताया, 'पतंजलि के कई सरकारी बैंकों के साथ रिश्ते हैं। इसलिए अगर हम उसे कर्ज की पेशकश करते हैं तो वह सही कदम होगा। मुझे नहीं लगता कि कंपनी को कोई समस्या होनी चाहिए।' इस बारे में पूछे गए सवालों का पतंजलि ने खबर लिखे जाने तक जवाब नहीं दिया था। हालांकि उसके एक अधिकारी ने बताया कि कंपनी रुचि सोया को खरीदने के लिए फंड के इंतजाम में जुटी है।


पाक, आतंक के सहारे छद्म युद्ध में लिप्त

पुणे! रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पुणे में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के 137वें कोर्स की पासिंग आउट परेड कार्यक्रम के दौरान कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद के सहारे भारत से छद्म युद्ध में लिप्त है, लेकिन आज मैं यह पूरी जिम्मेदारी के साथ कहता हूं कि वह इस युद्ध में कभी भी जीत नहीं सकता।
उन्होंने कहा कि जिस तरह से आतंकवाद के मुद्दे पर वैश्विक जगत में पाकिस्तान का पर्दाफाश हुआ है और पूरी दुनिया में0 अलग-थलग किया गया है, इसका बड़ा श्रेय हमारे प्रधानमंत्री की कुशल कूटनीति को जाता है।
 


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


दिसंबर 01, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-117 (साल-01)
2. रविवार,  दिसंबर 01, 2019
3. शक-1941, मार्गशीर्ष- शुक्लपक्ष, तिथि- पंचमी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:46,सूर्यास्त 05:45
5. न्‍यूनतम तापमान -12 डी.सै.,अधिकतम-23+ डी.सै., कोहरे की संभावना बनी रहेगी।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)



एमपी: परिजन ने मिट्टी का तेल डालकर लगाईं आग

मनोज सिंह ठाकुर       भोपाल। मध्य प्रदेश के सागर जिले के एक गांव में 25 वर्षीय युवक पर कथित तौर पर प्रेम प्रसंग के चलते युवती के परिजन ने मि...