शुक्रवार, 7 मई 2021

अमेरिका से नए संबंधों की उम्मीद आखिरकार टूटीं

वाशिंगटन डीसी/ इस्लामाबाद। दक्षिण एशिया में बाइडन प्रशासन की नीति में एक पहलू यह सामने आया है कि पाकिस्तान से दूरी बना कर चलने की अमेरिका की नीति अभी भी जारी है। इस तरह डोनाल्ड ट्रंप के ह्वाइट हाउस से विदा होने के बाद पाकिस्तान ने अमेरिका से अपने संबंधों को नया रूप मिलने की जो उम्मीद जोड़ी थी, वह अब टूटने लगी है। 
विश्लेषकों का कहना है कि अफगानिस्तान की शांति वार्ता में पाकिस्तान का अहम रोल है। इसके बावजूद अमेरिका ने पाकिस्तान के प्रति कोई नरमी नहीं दिखाई है। कूटनीतिक जानकारों ने इस तरफ ध्यान खींचा है कि बाइडन के राष्ट्रपति बने साढ़े तीन महीने हो गए हैं।लेकिन अभी तक उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान से सीधी बातचीत नहीं की है। जानकारों के मुताबिक बाइडन प्रशासन का ये आकलन है कि अफगानिस्तान में पाकिस्तान चीन और रूस के एजेंडे को आगे बढ़ा रहा है। इसीलिए बाइडन प्रशासन ने पाकिस्तान के प्रति अपनी नाराजगी जताने में कोई हिचक नहीं बरती। 

रोड़ पर फालतू घूम रहें लोगों के खिलाफ कार्रवाई की

बृजेश केसरवानी              
प्रयागराज। लॉकडाउन और कर्फ्यू का पालन कराने के लिए एडीजी प्रेम प्रकाश महोदय स्वयं सड़कों पर पैदल गस्त करते हुए नजारा आएं रोड़ पर फालतू घूम रहे लोगों से पूछताछ की गई और सही जवाब ना मिलने पर उनके खिलाफ चालान की भी कार्रवाई की गई। आज रमजान मुबारक का आखिरी जुमा अलविदा भी है। चौक जामा मस्जिद में हर साल हजारों लोग नमाज अदा करते थे।लेकिन कोविड-19 कोरोनावायरस के कारण इस साल दूरदराज से आने वाले लोग जामा मस्जिद नहीं आए और जामा मस्जिद का दरवाजा बंद कर दिया गया था। कोविड-19 गाइडलाइन का पालन करते हुए अलविदा की नमाज अदा की गई। पुलिस प्रशासन की पहली जिम्मेदारी जामा मस्जिद की नमाज अदा करानी थी एडीजी प्रेम प्रकाश, एसएसपी सर्वेश त्रिपाठी, एसपी क्राइम आशुतोष मिश्रा, एडीएम सिटी अशोक कुमार, कनौजिया सिटी मजिस्ट्रेट रजनीश कुमार मिश्रा, सीओ प्रथम सत्येंद्र तिवारी, कोतवाली इंस्पेक्टर नागेंद्र प्रसाद चौक क्षेत्र में पैदल गस्त किया। अलविदा की नमाज अदा करवाई गई और शांति व्यवस्था का जायजा लिया गया।शाहगंज खुल्दाबाद भी गए हमेशा की तरह मोहम्मद आमिर पुलिस प्रशासन का सहयोग कर रहे थे।

माहे रमज़ान का आखरी जुमा, संक्रमण का असर दिखा

बृजेश केसरवानी           
प्रयागराज। माहे रमज़ान के आखरी जुमा पर कोविड संक्रमण का साफ असर दिखा। मस्जिदों मे नमाज़ीयों मे सिर्फ पाँच लोगों का ही प्रवेश हुआ। ज़्यादातर लोगों ने अपने अपने घरों या दोस्तों व रिशतेदारों संग जुम्मतुल विदा की नमाज़ अदा की वहीं जिन लोगों ने अकेले पढ़ी उनहोने ज़ोहर की नियत कर नमाज़ अदा करते हुए बारगाहे इलाही मे शुक्र का सजदा किया। उम्मुल बनीन सोसाईटी के महासचिव सै.मो. अस्करी के अनुसार दायरा शाह अजमल की खानकाह मस्जिद,बख्शी बाज़ार, बैदन टोला, अटाला, रसूलपूर,करैलाबाग़, दरियाबाद, अकबरपूर, शाहगंज,
बरनतला, मिन्हाजपूर, रानीमण्डी, सब्ज़ी मण्डी, हटिया, नैनी क़साई मोहल्ला सहित शहर की सैकड़ो मस्जिदों मे पाँच लोगों की मौजूदगी मे पेश इमाम ने नमाज़ अदा कराई वहीं ज़्यादातर मस्जिदों मे सन्नाटा छाया रहा।मस्जिद इन्तेज़ामिया कमेटी की ओर से मस्जिदों मे पुरी तरहा से लॉकडाउन रहा। समाजसेवी शाहिद अब्बास रिज़वी के अतरसुय्या स्थित आवास पर मात्र पाँच लोगों की उपस्थिति मे जुम्मतुल विदा की नमाज़ की जगहा ज़ोहर की नियत करते हुए नमाज़ अदा की गई।

गुलाब का फूल भेंट कर घरों मे नमाज़ अदा करने की अपील...

समाजसेवी शाहिद प्रधान व मदर टेरेसा फाउण्डेशन के महानगर चेयरमैन सै.मो.अस्करी के नेत्रित्व मे जुम्मतुल विदा की नमाज़ अपने अपने घरोंं मे रहकर अदा करने को घर घर जा कर लोगों गुलाब का फूल भेंट कर यह संदेश दिया गया की जान है तो जहान है, घरों मे सुरक्षित रहें। नमाज़ घरों मे ही अदा करें। दायरा शाह अजमल, रानीमण्डी, बख्शी बाज़ार,बैदन टोला आदि मुहल्लों मे घर घर जा कर नमाज़ियों को मस्जिद मे न जाने और घरो मे रहने की अपील की गई। लोगों से कोरोना महामारी से निजात के लिए की गुज़ारिश करते हुए अपने हिन्दू भाईयों के लिए भी नमाज़ मे विशेष रुप से दुआ करने की अपील भी की गई।

बाहों पर काली पट्टी बाँध कर बैतुल मुक़द्दस की आज़ादी-इस्राईल और अमेरीका के खिलाफ किया प्रदर्शन

विश्व क़ुद्स दिवस के मौक़े पर कोरोना संक्रमण को देखते हुए और ओलमाओं के दिशानिर्देश पर घरों नमाज़ के दौरान बाज़ू पर काली पट्टी बाँध कर इस्राईल की बरबरता अमेरीका की दादागीरी के खिलाफ लोगों ने मुज़ाहिरा किया। क़िबला-ए-अव्वल बैतुल मुक़द्दस की आज़ादी की आवाज़ भी बुलन्द की। इमाम ए जुमा हसन रज़ा ज़ैदी,शिया धर्म गुरु जव्वादुल हैदर रिज़वी,शिया करबला क़ब्रिस्तान कमेटी के नायब सद्र शाहिद अब्बास रिज़वी,मस्जिद क़ाज़ी साहब बख्शी बाज़ार के मुतावल्ली शाहरुक़ क़ाज़ी,मस्जिद गदा हुसैन के शाहरुक़ हुसैनी,अन्जुमन नक़विया के रौनक़ सफीपुरी,हसन नक़वी,सूफी हसन,बज़मी अब्बास,ज़ामिन हसन,अली आला ज़ैदी,शफक़त अब्बास,ज़ौरेज़ हैदर,शबी हसन आदि ने अन्तराष्ट्रीय क़ुद्स दिवस पर विरोध प्रदर्शन करते हुए संयुक्त राष्ट्र से इस्राईल की बरबरता को संज्ञान मे लेने क़िबला-ए-अव्वल बैतुल मुक़द्दस को आज़ाद कराने की ऑनलाईन प्रदर्शन मे मांग की।ओलमाओं की अपील पर घरों मे रहकर विभिन्न तरीक़ो से लोगों ने इस्राईल,अमेरीका मुर्दाबाद का नारा बुलन्द किया।

डीएम ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र का किया निरीक्षण

कौशाम्बी। जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह ने शुक्रवार को एल-1 के रूप में बनाये गये प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मंझनपुर का निरीक्षण किया। निरीक्षण में उन्होने एल-1 में कोरोना पीडि़त भर्ती होने वाले मरीजों के लिए की गयी आवश्यक तैयारियों के संबंध में जानकारी प्राप्त की जिलाधिकारी ने वहां पर पंखा पानी, शौचालय, दवायें एवं बेड सहित अन्य आवश्यक व्यवस्थायें को चुस्त दुरूस्त बनाये रखने का निर्देश दिया है। ताकि भर्ती होने वाले मरीजों को किसी भी प्रकार की परेशानी न होने पाये। उन्होने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में साफ-सफाई एवं सेनेटाइजेशन का कार्य निरन्तर कराते रहने का भी निर्देश दिया है।
उज्ज्वल केशरवानी 

डीएम अमित ने आइसोलेशन वार्ड का किया निरीक्षण

कौशाम्बी। जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह ने शुक्रवार को जिला अस्पताल में एल-2 के रूप में बनाये गये आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया। जिलाधिकारी ने एल-2 आइसोलेशन वार्ड में कोरोना वायरस से संक्रमित भर्ती मरीजों के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कोरोना संक्रमित भर्ती मरीजों की समय-समय पर देखभाल करने, दवायें, गरम पानी एवं भोजन उचित समय पर दिये जाने का निर्देश दिया है। उन्होने अस्पताल में साफ-सफाई एवं सेनेटाइजेशन का कार्य नियमित रूप से कराते रहने के साथ-साथ बेडशीट को भी निरन्तर बदलते रहने के निर्देश दिये है। उन्होने चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टॉफ को पूर्ण सावधानी बरतते हुए अपने को भी सुरक्षित रखने को कहा है। कोरोना वायरस के बढ़ते मरीजों की संख्या को देखते हुए जिलाधिकारी ने बेडों की संख्या बढ़ाये जाने का निर्देश दिया है।
सुशील केसरवानी

कांग्रेस नेता ने घर तक ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचाया

अतुल त्यागी              
हापुड़। कोरोना महामारी में जहां देश की आम जनता त्रस्त है और अपने जीवन को कोरोना महामारी से बचाने के लिए घरों में कैद हैं। ऐसे में कांग्रेस नेता व शहर कांग्रेस कमेटी के कोषाध्यक्ष विक्की शर्मा एक बार फिर लोगों के लिए मसीहा बनकर साबित हुए हैं। गुरुवार को कांग्रेस नेता विक्की शर्मा के फोन पर जैसे ही उन्हें सूचना मिली कि हापुड़ शहर में फोन करने वाले व्यक्ति के परिचित जन के परिवार में पीड़ित व्यक्ति का ऑक्सीजन लेवल कम हैं और उन्हें ऑक्सीजन सिलेंडर की सख्त आवश्यकता है तो विक्की शर्मा ने तुरंत शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अभिषेक गोयल की मदद से पीड़ित परिजनों को स्वर्ग आश्रम रोड स्थित राधिका पैलेस के सामने गली में उनके घर तक ऑक्सीजन सिलेंडर पहुंचवाकर मदद की। पीड़ित परिजनों ने कांग्रेस नेता विक्की शर्मा द्वारा किए गए सहयोग के लिए शहर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अभिषेक गोयल और विक्की शर्मा का आभार व्यक्त किया है। आपको बता दें कि जब से कांग्रेस जनों को हापुड़ में ऑक्सीजन सिलेंडर और अस्पतालों बेड की किल्लत होने की जानकारी मिली हैं। तभी से कांग्रेस जन शहर में पीड़ित लोगों के लिए निरंतर अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में दिन रात लगे हुए हैं। इससे पहले कांग्रेस नेता विक्की शर्मा ने आरोग्य, जीएस और रामा जैसे बड़े अस्पतालों में पीड़ित परिजनों के लिए बेड की व्यवस्था कराई हैं।

एक्सप्रेस सहित 52 जोड़ी यात्री ट्रेनों को रद्द किया

अकांशु उपाध्याय              
नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने देश में कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण संक्रमण के बढ़ते मामलों और यात्रियों की कमी के कारण लंबी दूरी की शताब्दी, राजधानी, दुरंतो और वंदे भारत एक्सप्रेस सहित 52 जोड़ी यात्री ट्रेनों को रद्द कर दिया है। 
उत्तर रेलवे डिवीजन ने गुरुवार को 28 जोड़ी यात्री रेलगाड़ियों की सूची जारी की है। इनमें आठ जोड़ी शताब्दी, 2-2 जोड़ी राजधानी, जनशताब्दी और दुरंतो के अलावा एक जोड़ी वंदेभारत और देहरादून-दिल्ली त्योहार स्पेशल, कोटद्वार-दिल्ली सिद्धाबली स्पेशल. कालका-शिमला रेल मोट्रर्स स्पेशल. कालका-शिमला त्योहार स्पेशल ट्रेन शामिल हैं। इनमें से अधिकांश रेलगाड़ियां 09 मई से अगले आदेश तक रद्द रहेंगी।   
इनमें नई दिल्ली-हबीबगंज शताब्दी स्पेशल, नई दिल्ली-कालका शताब्दी स्पेशल, नई दिल्ली-अमृतसर शताब्दी स्पेशल, नई दिल्ली-देहरादून शताब्दी स्पेशल, नई दिल्ली-काठगोदाम शताब्दी स्पेशल और नई दिल्ली-चंडीगढ़ शताब्दी स्पेशल शामिल हैं। ये सभी 09 मई से अगले आदेश तक रद्द रहेंगी। 
वहीं, नई दिल्ली-देहरादून जनशताब्दी स्पेशल और नई दिल्ली-उना जनशताब्दी स्पेशल क्रमश: 10 और 9 मई से अगले आदेश तक रद्द रहेगी। निजामुद्दीन-पुणे दुरंतो स्पेशल 10 मई से और सराय रोहिल्ला-जम्मू दुरंतो स्पेशल 9 मई से अगले आदेश तक रद्द रहेगी। निजामुद्दीन-चेन्नई राजधानी स्पेशल 12 मई से और नई दिल्ली-बिलासपुर राजधानी स्पेशल 11 मई से अगले आदेश तक रद्द रहेगी। दिल्ली-कटरा वंदे भारत स्पेशल एक्सप्रेस 9 मई से अगले आदेश तक रद्द कर दी गई है।
उधर, मध्य रेलवे डिवीजन ने भी यात्रियों की कमी का हवाला देते हुए 24 जोड़ी ट्रेनों को 10 मई से 30 जून तक रद्द करने की घोषणा जारी की है।

यूपी को वैक्सीन प्रूफ करने में जुटे हुएं सीएम योगी

हरिओम उपाध्याय               
लखनऊ। उत्तर प्रदेश को वैक्सीन प्रूफ करने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जुटे हुए हैं। उनकी सरकार का दावा है कि अब कोरोना की वैक्सीन में कोई कमी नहीं होगी। सभी प्रदेशवासियों को आराम से इसकी खुराक उपलब्ध करा दी जाएगी। प्रदेश में वैक्सीन की कमी न हो इसके लिए निर्माताओं के हाथ में सरकार ने एडवांस में करोड़ों रुपये थमा दिया है। 
 गुरुवार को अपर मुख्य सचिव, सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि योगी सरकार वैक्सीन निर्माताओं को 20 करोड़ रुपये एडवांस दे दिया है। उन्होंने समय पर वैक्सीन उपलब्ध कराने को कहा है। वहीं, कहा कि वैक्सीन की 40 मिलियन डोज के लिये यूपी सरकार पहले ही ग्लोबल टेंडर जारी कर चुकी है। 21 मई को टेंडर भरने की अंतिम तिथि घोषित की है।
 उन्होंने बताया कि अगले हफ्ते तक प्रदेश में एक करोड़ वैक्सीन आ जाएंगी। वैक्सीन की उपलब्धता बनाए रखने पर सरकार का पूरा जोर है। अभियान में किसी प्रकार की कमी न होने पाए इसके लिये सरकार ने पूरी ताकत लगा रखी है। बताया कि यूपी में 01 मई से वैक्सीनेशन का तीसरा चरण शुरू हो चुका है। तीसरे चरण में 18 से 44 वर्ष के लोगों का वैक्सीनेशन कराया जा रहा है। इसके साथ ही सरकार वैक्सीन का दूसरा डोज देने का कार्य भी युद्ध स्तर पर कर रही है।
 उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री योगी स्वयं बीमारी की रोकथाम के लिये की गई व्यवस्थाओं की देखरेख कर रहे हैं। अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी बराबर जारी किये जा रहे हैं। 

संक्रमितों का निशुल्क इलाज, नई योजना लागू होगीं

सौरभ शर्मा             
भोपाल। मध्‍य प्रदेश में कोरोना मरीजों के निःशुल्क इलाज़ के लिए नई योजना लागू होगी। यह इसलिए किया जा रहा है। क्‍योंकि गरीबों को निजी अस्‍पतालों में स्‍वास्‍थ्‍य लाभ नहीं मिल पा रहा। इसलिए प्रदेश के आम व्‍यक्‍ति के जीवन का मूल्‍य समझते हुए राज्‍य की शिवराज सरकार ये बड़ा निर्णय लेने जा रही है। इसके संकेत गुरुवार को स्‍वयं मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिए हैं। 
 चौहान ने कहा कि प्रदेश में कोरोना मरीजों के निःशुल्क इलाज़ के लिए नई योजना लागू की जा रही है। इसके अंतर्गत प्रदेश के गरीब एवं आम आदमी को जहां तक मध्यम वर्गीय व्यक्ति को भी कोरोना का निःशुल्क इलाज अनुबंधित निजी अस्पतालों में मिल सकेगा। योजना के क्रियान्वयन के लिए आयुष्मान भारत योजना पर निजी अस्पतालों को राज्य सरकार द्वारा विशेष पैकेज दिया जाएगा। सरकार कुछ बड़े अस्पताल छोड़कर निजी अस्पतालों को कोविड इलाज़ के लिए अनुबंधित करेगी।
 मुख्यमंत्री चौहान गुरुवार को अपने निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना नियंत्रण कोर ग्रुप की बैठक ले रहे थे। बैठक में संबंधित मंत्रीगण, अधिकारीगण वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से उपस्थिति हुए। उन्‍होंने कहा कि प्रदेश में अभी तक आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत दो करोड़ 42 लाख कार्ड बनाए गए हैं, जिससे 88 प्रतिशत जनसंख्या कवर्ड हो रही है। इन सभी को शासन द्वारा अनुबंधित अस्पतालों में कोरोना का निःशुल्क इलाज़ मिल सकेगा। 
 शिवराज ने कहा कि योजना के अंतर्गत सिटी स्कैन आदि जांचें भी नि:शुल्क होंगी तथा दवाएं, रेमडेसिविर इंजेक्शन, ऑक्सीजन आदि भी निःशुल्क मिलेंगे। उन्‍होंने निर्देश दिए कि वैक्सीन की उपलब्धता अनुसार 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का वैक्सीनेशन निरंतर चलता रहे। 45 वर्ष से अधिक के व्यक्तियों का वैक्सीनेशन भी पूर्व अनुसार जारी रहे। इसके अलावा बैठक में बताया गया है कि ज़िलों में अस्पतालों से कोरोना के मरीज़ों के बड़ी संख्या में स्वस्थ होकर डिस्चार्ज होने से बिस्तरों की उपलब्धता बढ़ी है। इसके बाद भी मुख्यमंत्री चौहान ने सभी जिलों के अस्‍पतालों एवं कोविड केयर सेंटर में आईसीयू बेड्स बढ़ाए जाने के निर्देश दिए हैं।

शिवाजी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैडिंग हुईं

 अकांशु उपाध्याय                 
नई दिल्ली। नागपुर से हैदराबाद जाने वाली नॉन-शेड्यूल फ्लाइट में तकनीकी खराबी आने के बाद गुरुवार रात सवा नौ बजे मुंबई के छत्रपती शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैडिंग हुई। विमान सेवा क्षेत्र में सेवारत मंदार भारदे की अगुवाई में इस पूरे ऑपरेशन को अंजाम दिया गया। 
 जानकारी के मुताबिक विझक्रॉफ्ट कंपनी के जेट सेर्वे एविएशन द्वारा संचालित सी-90 वीटी-जेआईएल फ्लाइट ने गुरुवार शाम को हैदराबाद के लिए उड़ान भरी थी। नागपुर एयरपोर्ट से टेकऑफ के दौरान हवाई जहाज का अगला पहिया अलग हो गया। ऐसी स्थिति में हवाई जहाज की इमरजेंसी लैंडिग करनी होती है।
 फ्लाइट के पायलट केसरी सिंग ने इस बारे में कंट्रोल रूम को सूचित किया जिसके तुरंत बाद हवाई जहाज को मुंबई की ओर मोड़ा गया लेकिन इमरजेंसी लैडिंग के वक्त फ्लाइट हलका होना जरूरी होता है। नतीजतन इस फ्लाइट को लगभग एक घंटे तक हवा में घुमाया गया। इसके बाद जब पेट्रोल खत्म होने की कगार पर था तब पायलट ने लैंडिंग गियर का उपयोग किए बिना 'बेली लैंडिंग' का प्रयास किया। इस दौरान आग से बचाव के लिए फोम को रनवे पर रखा गया था। मंदार भारदे के मार्गदर्शन में हुए इस ऑपरेशन में हवाई जहाज को सफलतापूर्वक उतारा गया।

कोरोना की दूसरी लहर के बाद नई बिमारी, शिकार

गांधीनगर। कोरोना की दूसरी लहर में संक्रमित मरीज ठीक होने के बाद एक नई बिमारी का तेजी से शिकार हो रहे हैं। जिसके चलते समय पर इलाज न होने पर मरीजों की आंख निकालनी पड़ रही है या फिर उनकी मौत हो रही हैं। इस बीमारी का नाम मिकोर माइकोसिस है। सूरत में 15 दिन के भीतर ऐसे 40 से अधिक केस सामने आए हैं, जिनमें 8 मरीजों की आंखें निकालनी पड़ी हैं।
एक तरफ गुजरात के सूरत में कोरोना की दूसरी लहर ने कहर मचा रखा है और मरीज बेड-वेंटिलेटर और ऑक्सीजन की कमी के चलते दम तोड़ रहे थे। अब लोगों को एक नई बीमारी का भी शिकार होना पड़ रह है। यह बीमारी इतनी खतरनाक है कि समय पर इसका इलाज न होने पर मरीज की आंख निकालनी पड़ती या उसकी मौत हो जाती है। इस नई बीमारी का नाम मिकोर माइकोसिस बताया जा रहा है।

उत्तराखंड: पौड़ी के 1 गांव में 30 लोग संक्रमित मिलें

 पंकज कपूर            
देहरादून। कोरोना संक्रमण उत्तराखंड के गांवों में भी कहर बरपा रहा है। पौड़ी जिले के एक गांव में गुरुवार को 30 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। जिले के छोटे से गांव में कोरोना विस्फोट के बाद हड़कंप मच गय  है। बता दें कि जयहरीखाल क्षेत्र के बंदून गांव में सिर्फ 45 लोग निवास करते हैं।
इतनी बड़ी संख्या में एक ही जगह कोरोना संक्रमितों के मिलने से स्वास्थ्य विभाग की टीम अन्य ग्रामीणों के नमूने लेने में जुट गई हैं। सतपुली की तहसीलदार सुधा डोभाल ने बताया कि ग्रामीणों के पिछले कुछ दिन से बीमार चलने की सूचना मिलने पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा तीन मई को जांच के लिए उनके नमूने लिए गए थे।

भारतीय सेना ने 2 फील्ड अस्पतालों को पटना पहुंचाया

 अविनाश श्रीवास्तव                    
 पटना। बिहार में बढ़ते कोविड केसों को देखते हुए भारतीय सेना ने नॉर्थ ईस्ट के 2 फील्ड अस्पतालों को हवाई जहाज से पटना पहुंचा दिया है। इनमें चिकित्सा विशेषज्ञ, चिकित्सा अधिकारी, नर्सिंग और सहायक कर्मचारी हैं जो 100 आईसीयू बेड सहित ईएसआई, पटना में 500 बेड वाले अस्पताल की स्थापना में सहयोग देंगे।अगले दो दिनों में भारतीय सेना यहां हवाई मार्ग से और सुविधाएं बढ़ाएगी। 
सेना के प्रवक्ता ने बताया कि भारतीय सेना ने बिहार में कोविड मामलों की वृद्धि को देखते हुए राज्य सरकार की सहायता के लिए उत्तर-पूर्व के दो फील्ड अस्पताल हवाई जहाज से पटना पहुंचा दिए हैं। इन फील्ड अस्पतालों में चिकित्सा विशेषज्ञ, चिकित्सा अधिकारी, नर्सिंग और सहायक कर्मचारी शामिल हैं। यह मेडिकल टीम ईएसआई पटना में 100 आईसीयू बेड सहित 500 बेड वाले अस्पताल की स्थापना में सहयोग करेगी। अस्पताल में मेडिकल स्टाफ की ताकत बढ़ाने के लिए अतिरिक्त विशेषज्ञ, चिकित्सा अधिकारी, नर्सिंग स्टाफ के साथ-साथ प्रशिक्षित इन्फैंट्री बैटलफील्ड नर्सिंग असिस्टेंट को अगले दो दिनों में हवाई मार्ग से भेजा जा सकता है।
 ​प्रवक्ता का कहना है कि भारतीय सेना राष्ट्रीय स्तर पर कोविड रिस्पांस में सबसे आगे रही है। एक ओर सेना ने अपने सैन्य बल को कोविड से बचाए रखा है। पूर्व सैनिकों और उनके आश्रितों को चिकित्सा देखभाल सुनिश्चित की है। सेना ने सिविल अधिकारियों की सहायता के लिए दिल्ली, अहमदाबाद, लखनऊ, वाराणसी और पटना के उन पांच कोविड अस्पतालों में काफी चिकित्सा संसाधन भी तैनात किए हैं। जो इन शहरों में या तो पहले से कार्यरत हैं या स्थापित होने की प्रक्रिया में हैं। इसीलिए एक महानिदेशक रैंक के अधिकारी के तहत विशेष कोविड प्रबंधन प्रकोष्ठ की स्थापना की गई है। जो सीधे वाइस चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ को रिपोर्ट करेंगे।
 इससे दिल्ली समेत देश भर में कोविड मामलों में बेहद तेज़ी से हो रही वृद्धि को कम करने के लिए रीयल टाइम प्रतिक्रियाओं के समन्वय में अधिक दक्षता आएगी। दिल्ली में परीक्षण, सैन्य अस्पतालों में प्रवेश और महत्वपूर्ण चिकित्सा उपकरणों के परिवहन आदि के रूप में नागरिक प्रशासन को सहायता पहले से ही प्रदान की जा रही है। भारतीय सेना कोविड महामारी से लड़ने में राष्ट्रीय प्रयासों में शामिल होने के लिए प्रतिबद्ध है।

एचसी के सभी चीफ जस्टिस से बात करूंगा: रमना

 अकांशु उपाध्याय               
नई दिल्ली। देश की अलग-अलग जेलों में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई थी। इस पर सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) एनवी रमना ने कहा कि मैं कल हाई कोर्ट के सभी चीफ जस्टिस से बात करूंगा और उनसे हाई पॉवर कमेटी बनाने के लिए कहूंगा।
दरअसल, पिछले साल ही सुप्रीम कोर्ट ने जेल में कोरोना के मामले को देखने और उसी हिसाब से कैदियों को पेरोल या जमानत पर रिहा करने के लिए सभी हाई कोर्ट को एक हाई पॉवर कमेटी का गठन करने का निर्देश दिया था।  इस बार फिर कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। खासतौर पर जिन जेलों में क्षमता से अधिक कैदी बंद हैं, वहां कोरोना विस्फोट का खतरा है।

सगे पिता के दुष्कर्म सहती रहींं दो नाबालिग बहनें

धर्मपुर। सगे पिता के दुष्कर्म सहती रहींं दो नाबालिग बहनें। फिर पिता की नियत तीसरी नाबालिग बेटी पर हुई खराब तो तीसरी को बचाने के किया येमंडी। दो नाबालिग बहनें काफी लंबे समय तक अपने पिता की हवस का शिकार होती रही। जब इन दोनों के बाद पिता की नजरें अपनी तीसरी बेटी पर टिक गई तो उसे बचाने के लिए दोनों ने हिम्मत दिखाकर अपना मुंह खोला और चाइल्डलाइन के माध्यम से मदद मांगकर पुलिस तक अपनी बात पहुंचाई। दिल झकझोर कर रख देने वाला यह मामला सामने आया है। मंडीजिला के धर्मपुर थाना क्षेत्र के तहत।
क्षेत्र के एक सरकारी विभाग में कार्यरत कर्मचारी अपनी तीन बेटियों और एक बेटे के साथ रहता है। पत्नी के साथ कुछ समय से पारिवारिक विवाद चल रहा है जिस कारण पत्नी अलग रहती है। चाइल्ड लाईन के माध्यम से पुलिस को दी शिकायत में दो बेटियों ने बताया कि उनके पिता ने कई बार उनके साथ दुराचार किया। खर्च न देने के नाम पर डराया और धमकाया।

दिल्ली से दो पर्यवेक्षकों को असम भेजनें का ऐलान

गुवाहाटी। असम विधानसभा चुनाव में गठबंधन दलों के साथ पूर्ण बहुमत हासिल करने वाली भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) मुख्यमंत्री के चयन को लेकर आपसी खींचतान में फंसी हुई है। मतगणना के 6 दिन बाद भी भाजपा अपने मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा नहीं कर पा रही है। समय बीतने के साथ भाजपा दो गुटों में बंटी नजर आ रही है। पार्टी ने  मुख्यमंत्री का नाम तय करने के लिए दिल्ली से दो पर्यवेक्षकों को असम भेजने का ऐलान किया है। लेकिन अभी तक पर्यवेक्षक असम नहीं पहुंचे हैं।
विधानसभा चुनाव के दौरान स्थानीय स्तर पर भाजपा ने मुख्य रूप से अपने वर्तमान मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के चेहरे के साथ ही तेजतर्रार और कद्दावर नेता डॉ हिमंत विश्वशर्मा को सामने रखकर प्रचार किया। चुनाव के आरंभ से ही स्थिति साफ होने लगी थी कि भाजपा एक बार फिर विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के बिना ही चुनाव मैदान में उतरेगी। मुख्यमंत्री के नाम को लेकर पार्टी सवालों को पूरे चुनाव टालती रही। मतगणना के बाद भी पार्टी की स्थिति कमोबेश यही कायम है।
ऐसे में कयासों का बाजार गर्म होने लगा है कि भाजपा इस बार असम में अपने मुख्यमंत्री का चेहरा बदल सकती है। पार्टी में साफ तौर पर सोनोवाल और डॉ विश्वशर्मा के दो धड़े दिखाई दे रहे हैं। हालांकि भाजपा का कोई शीर्ष नेता हो या अन्य नेता, कोई भी इस बात को कहने के लिए तैयार नहीं है कि राज्य की कमान किसके हाथों में सौंपी जाएगी। सभी नेता सिर्फ एक ही बात कहते नजर आ रहे हैं पार्टी की केंद्रीय कमेटी जो निर्णय लेगी, उसको सभी स्वीकार करेंगे।
अंदरूनी तौर पर देखा जाए तो चुने हुए विधायक कहीं न कहीं दो खेमों में बंटे नजर आ रहे हैं। भाजपा से जुड़े कुछ संगठनों के वरिष्ठ नेताओं ने इशारों-इशारों में इस बात का संकेत किया है कि संभवतः राज्य की कमान इस बार डॉ. हिमंत विश्वशर्मा को सौंपी जा सकती है। इसके लिए पार्टी के अंदर एकराय बनती नजर आ रही है। जबकि सर्वानंद सोनोवाल को फिर से केंद्रीय कैबिनेट में स्थान दिया जा सकता है। हालांकि खुले तौर पर इस बात को कोई कहने के लिए तैयार नहीं है। वैसे दूसरी ओर सर्वानंद सोनवाल ने भी मुख्यमंत्री की गद्दी की लड़ाई को अभी तक छोड़ा नहीं है। चुनाव नतीजे आने के बाद भी अभी तक पुरानी सरकार भंग नहीं हुई है। अमूमन चुनाव परिणाम आने के दिन या दूसरे दिन पुरानी सरकारी इस्तीफा दे दिया करती है। 
न सिर्फ राज्य की जनता में बल्कि, भाजपा के कार्यकर्ताओं में भी नए मुख्यमंत्री की घोषणा को लेकर काफी उत्सुकता दिखाई दे रही है। इधर, गैर-भाजपा दलों में भी इस बात की उत्सुकता बनी हुई है कि सोनोवाल और डॉ विश्वशर्मा के बीच आखिर मुख्यमंत्री का उम्मीदवार पार्टी द्वारा कौन बनाया जाता है।
कांग्रेस, एआईयूडीएफ, बीपीएफ आदि दलों में भी तोड़फोड़ को लेकर हड़कंप मचा हुआ है। विपक्षी दलों के बीच ऐसी आशंकाएं देखी जा रही है कि कहीं मुख्यमंत्री बनने के लिए विधायकों की संख्या दिखाने के लिए उनकी पार्टियों में तोड़फोड़ हो सकती है।
अपुष्ट सूत्रों का कहना है कि चुनाव से पूर्व विपक्षी दलों के कई विधायकों को चुनाव में टिकट प्राप्त करने और फिर चुनाव खर्च के लिए भाजपा नेताओं द्वारा सहायता दी गई थी। वहीं, नई बनने वाली सरकार में अच्छे पद का लोभ देकर विपक्षी विधायकों को तोड़े जाने की संभावना से कोई भी इनकार नहीं कर रहा है।

इस संदर्भ में उल्लेखनीय है कि असम की राजनीति में ऊपरी असम और निचले असम को लेकर हमेशा ही प्रतिस्पर्धा बनी रहती है। राज्य के  प्राख्यात कांग्रेस नेता डॉ भूमिधर बर्मन तथा सैयदा अनवरा तैमूर के अलावे आज तक निचले असम का कोई भी नेता मुख्यमंत्री नहीं बन सका। ऊपरी असम की एक लॉबी है जो फिर से सर्वानंद सोनोवाल को मुख्यमंत्री बनाने पर तुली हुई हैं। जबकि, पार्टी के अंदर और विधायकों के बीच डॉ. विश्वशर्मा अधिक लोकप्रिय हैं। राज्य की जनता के बीच भी सोनोवाल हिमंत की तुलना में अधिक लोकप्रिय नहीं हैं। यही वजह है कि उनके मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए भी भाजपा द्वारा बगैर मुख्यमंत्री के चेहरे के चुनाव लड़ा गया। 
चुनाव के लिए आर्थिक प्रबंधन से लेकर टिकटों के बंटवारे तथा अन्य दलों के साथ गठबधन के मुद्दे पर सोनोवाल के मुकाबले भाजपा द्वारा हिमंत को अधिक तरजीह दी गयी। पार्टी के अंदरूनी सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री के मुद्दे पर डॉ. विश्वशर्मा की राहों में सोनोवाल खेमा द्वारा यह कहकर रोड़ा अटकाया जा रहा है कि पार्टी के प्रति हिमंत की वफादारी पर भरोसा नहीं किया जा सकता है। जिस कांग्रेस पार्टी ने हिमंत को अपना सर्वेसर्वा बना रखा था, वहीं हिमंत कांग्रेस को दगा दे गए। हिमंत के इस चरित्र से भाजपा को सावधान रहना चाहिए। वहीं, दूसरी ओर हिमंत के पक्ष में पार्टी के लोगों का यह कहना है कि हिमंत ने कांग्रेस को अपना सब कुछ दिया था, बावजूद इसके जब कांग्रेस ने उन्हें अपमानित करना शुरू कर दिया तब उन्होंने कांग्रेस को सबक सिखाए। अन्यथा दोबारा और फिर तीसरी बार कांग्रेस को सत्ता में लाने का श्रेय हिमंत को ही जाता ।
पार्टी से बगावत सोनोवाल ने भी किया था। असम गण परिषद ने सोनोवाल को जमीन से उठा कर सीधे सांसद बना दिया था। पार्टी में उन्हें अपमानित भी नहीं किया। बावजूद इसके जब पार्टी के लिए कुछ करने का समय आया तो सोनोवाल भाजपा में आ गए।
वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य में यदि पार्टी के प्रति वफादारी की कसौटी पर कसा जाए तो असम ही नहीं, पूर्वोत्तर में भाजपा के नेताओं की संख्या नगण्य हो जाएगी। आज की राजनीति में वही शामिल होते हैं, जिनकी कुछ राजनीतिक महत्वाकांक्षाएं होती हैं। ऐसे में यदि राजनीतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति के लिए नेता दल-बदल करते हैं तो देश की जनता उन्हें नकारती नहीं है। यह बात देश में अनेक बार साबित हो चुकी है। ऐसे में इस आधार पर हिमंत को भाजपा दरकिनार नहीं कर सकती है। विभिन्न तरीके से पार्टी के अंदर मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान चल रही है। पार्टी के कार्यकर्ता मानते हैं कि शीघ्र ही पार्टी नए मुख्यमंत्री की घोषणा कर देगी।

स्टालिन ने तमिलनाडु के सीएम पद की शपथ लीं

 चेन्नई। एम के स्टालिन ने आज तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। स्टालिन ने पहली बार मुख्यमंत्री बनें हैं। स्टालिन ने अपना कार्यभार संभालने के बाद सबसे पहले कोरोना राहत के रूप में हर परिवार को 4,000 रुपये प्रदान करने के आदेश पर हस्ताक्षर        किए।  2,000 रुपये की पहली किस्त मई महीने में दी जाएगी। सीएम स्टालिन ने यह भी घोषणा की कि राज्य सरकार सभी स्टेट गवर्नमेंट इंश्योरेंश कार्डहोल्डर्स का निजी अस्पतालों में कोरोना संबंधित उपचार का खर्च वहन करेगी।
15 सदस्य पहली बार बनें मंत्री...
स्टालिन के मंत्रिमंडल में उनके साथ 33 सदस्य शामिल किए गए गए हैं। इन 33 सदस्यों में 15 पहली बार मंत्री    बनें हैं। वहीं, स्टालिन ने दपरईमुरुगन जैसे वरिष्ठ नेताओं को इस मंत्रिमंडल में बरकरार रखा है।आपको बता दें।कि द्रमुक के नेता व पार्टी सचिव दपरईमुरुगन जल संसाधन मंत्री होंगे। इससे पहले वाली सरकार 2006-11 में वो लोक निर्माण मंत्री के पद पर थे। स्टालिन खुद गृह के अलावा सार्वजनिक व सामान्य प्रशासन समेत अखिल भारतीय सेवाएं और अन्य विभाग संभालेंगे।

बंगाल: सेंट्रल फोर्स के जवानों के प्रवेश पर लगाईं रोक

कोलकाता। पश्चिम बंगाल विधानसभा परिसर में सेंट्रल फोर्स के जवानों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। गुरुवार को पश्चिम बंगाल विधानसभा के सचिव ने इस बाबत से आदेश जारी किया है। 
ज्ञातव्य है कि भाजपा के नवनिर्वाचित कई विधायकों को केंद्रीय सुरक्षा बलों की सुरक्षा प्राप्त हैं। अब उन विधायकों के साथ विधानसभा परिसर में केंद्रीय सुरक्षा बल के जवान प्रवेश नहीं कर पाएंगे। गुरुवार को नंदीग्राम से नवनिर्वाचित भाजपा के विधायक और पूर्व मंत्री शुभेंदु अधिकारी विधानसभा में विधायक पद की शपथ लेने पहुंचे थे। उस समय उनकी सुरक्षा में तैनात सेंट्रल फोर्स के जवानों का पत्रकारों और फोटोग्राफों के साथ धक्का-मुक्की हुई थी। उसके मद्देनजर ही विधानसभा सचिवालय ने शुक्रवार को आदेश जारी कर केंद्रीय सुरक्षा बलों के विधानसभा परिसर में प्रवेश पर रोक लगा दी है। इस बावत विधानसभा के गेट पर नोटिस‌ चस्पा किया गया है।

किस्त में 17 राज्यों को ₹9,871 करोड़ जारी किए

  अकांंशु उपाध्याय               
 नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने राज्यों को आर्थिक मदद देने के लिए राजस्व घाटा अनुदान की दूसरी किस्त जारी कर दी है। इस दूसरी किस्त में 17 राज्यों को 9,871 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं। ये जानकारी वित्त मंत्रालय की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में दी गई है। वित्त मंत्रालय की ओर से जारी वक्तव्य में कहा गया है कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम को लेकर चल रही देशव्यापी कोशिश में केंद्र सरकार राज्य सरकारों को हर संभव तरीके से मदद करने की कोशिश कर रही है। इसी कोशिश के तहत वित्त मंत्रालय ने मई के महीने में राजस्व घाटा अनुदान की दूसरी किस्त जारी की है। इससे पहले अप्रैल के महीने में भी सरकार ने राज्यों को राजस्व घाटा अनुदान की पहली किस्त जारी की थी। दो किस्तों में अभी तक केंद्र सरकार राज्यों को कुल 19,472 करोड़ रुपये की राशि राजस्व घाटा अनुदान के रूप में जारी कर चुकी है।
 केंद्रीय करों में राज्यों की हिस्सेदारी देने के बाद राजस्व खाते में जो अंतर रह जाता है, उसे पूरा करने के लिए केंद्र सरकार राज्य सरकारों को राजस्व घाटा अनुदान देती है। राजस्व घाटा अनुदान की सिफारिश संविधान के अनुच्छेद 275 के तहत वित्त आयोग की ओर से की जाती है। उल्लेखनीय है कि 15वें वित्त आयोग ने देश के 17 राज्यों को राजस्व घाटा पूरा करने के लिए तत्संबंधी अनुदान देने की सिफारिश की थी। 
 राजस्व घाटा अनुदान की दूसरी किस्त जारी करने के पहले केंद्र सरकार 1 मई को राज्यों को आपदा कोष के तहत भी केंद्रीय हिस्से की पहली किस्त के रूप में 8,873.6 करोड़ रुपये की राशि जारी कर चुकी है। इस राशि को जारी करते वक्त केंद्र सरकार ने साफ कर दिया था कि आपदा कोष के तहत दी जाने वाली राशि का 50 फीसदी यानी 4,436.8 करोड़ रुपये की राशि का इस्तेमाल कोरोना संक्रमण के रोकथाम में किया जा सकेगा। राज्यों को आपदा कोष की ये राशि केंद्रीय गृह मंत्रालय की सिफारिश पर जारी की गई थी। 
 उल्लेखनीय है कि आपदा कोष के तहत केंद्र सरकार की ओर से आमतौर पर जून महीने में राशि का आवंटन किया जाता है लेकिन देशव्यापी कोरोना संकट को देखते हुए इस साल ये राशि समय से पहले ही जारी कर दी गई है। आपदा कोष की राशि के आधे हिस्से का इस्तेमाल राज्य सरकार अपने अस्पतालों में चिकित्सीय सुविधा मुहैया कराने, वेंटिलेटर की व्यवस्था करने, एयर प्यूरीफायर लगाने, एंबुलेंस सेवा को मजबूत करने और कोविड केयर सेंटर तैयार करने में कर सकती है। 

सरकार ने वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत की

राणा ओबराय                 
गुरुग्राम। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सरकार ने 18 साल से ऊपर के सभी नागरिकों के लिए कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत कर दी है। लेकिन आधी-अधूरी तैयारियों की वजह से लोगों को परेशान होना पड़ रहा है। 18 साल से ज्याजा उम्र के युवाओं के साथ साथ 45 साल की उम्र से ज्यादा तक के नागरिक पीएचसी सेंटर और निजी अस्पतालों में भटकने को मजबूर हैं। सेक्टर-31 पीएचसी सेंटर्स वैक्सीन नहीं होने की वजह से लोग घंटों लाइन में लगने को मजबूर हैं। नागरिकों ने कहा कि वो 3 घंटे से लाइन में खड़े हैं। जब उनकी बारी आई तो पता चला कि वैक्सीन खत्म हो गई है। अस्पताल और पीएचसी सेंटर में वैक्सीन लगवाने के लिए नागरिकों की संख्या बढ़ती जा रही है। लेकिन कोरोना वैक्सीन की कमी की वजह से लोगों काफी परेशानी हो रही है। इस मामले में पीएचसी सेंटर इंचार्ज नीता गठवाल की माने तो लगातार हो रही मौतों से लोगों में डर का माहौल है। जिसके कारण वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीन के लिए अधिकारियों को लिख दिया है। जल्द ही कमी पूरी हो जाएगी।

एचसी ने दिल्ली सरकार की जमकर खिंचाई की

अकांशु उपाध्याय                 
नई दिल्ली। हाईकोर्ट ने राजधानी के स्वास्थ्य ढांचे को लेकर गुरुवार को दिल्ली सरकार की जमकर खिंचाई की। हाईकोर्ट ने कहा कि कोरोना महामारी की इस परीक्षा की घड़ी में राजधानी में वर्तमान स्वास्थ्य ढांचा चरमरा गया है। इसके साथ ही हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि राजधानी के जो भी निवासी कोविड-19 से पीड़ित हैं, उन्हें इलाज की सुविधा मुहैया कराएं।
जस्टिस विपिन सांघी और जस्टिस रेखा पल्ली की बेंच ने कहा कि सरकार अगर यह कह रही है कि स्वास्थ्य ढांचा चरमराया नहीं है तो वह शुतुरमुर्ग की तरह व्यवहार कर रही है जो संकट के समय अपना सिर रेत में धंसा लेता है। बेंच ने दिल्ली सरकार की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील राहुल मेहरा से कहा कि आप रेत में सिर धंसाए शुतुरमुर्ग की तरह व्यवहार कर रहे हैं। जब आप इस स्थिति का बचाव कर रहे हैं तो आप राजनीति से ऊपर नहीं उठ रहे हैं। हम हमेशा सच कहेंगे चाहे वह कितना भी कड़वा क्यों नहीं हो। मेहरा ने बेंच के समक्ष कहा था कि वह यह नहीं कह सकते हैं कि स्वास्थ्य ढांचा चरमरा गया है।
उन्होंने कहा कि सरकार के पास कई पहल हैं जैसे बेड्स की संख्या 15 हजार तक बढ़ाना और आईसीयू बेड्स की संख्या 1200 बढ़ाना। ये सब पाइपलाइन में हैं और अब ऑक्सीजन की आपूर्ति भी हो रही है। इस पर हाईकोर्ट ने कहा कि सिर्फ ऑक्सीजन की बात नहीं है। क्या ऑक्सीजन पर्याप्त है? क्या आपके पास ऑक्सीजन है तो आपके पास सब कुछ है? बेंच ने कहा कि पाइपलाइन तो पाइपलाइन है। वे फिलहाल उपलब्ध नहीं हैं। बेंच ने यह टिप्पणी 53 वर्षीय एक कोविड रोगी की याचिका पर की, जिसने वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बेड की मांग की क्योंकि उसका ऑक्सीजन स्तर करीब 40 तक गिर गया और उसे कहीं भी आईसीयू बेड नहीं मिल पा रहा है।

भारत: 24 घंटे में 19,133 नए मामलें सामने आएं

 अकांशु उपाध्याय                        
नई दिल्ली। भारत में कोरोना संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 19133 नए मामले सामने आए। इस दौरान 335 लोगों की मौत हुई। वैसे राजधानी में बीते कुछ दिनों से कोरोना से हालात कुछ बेहतर होते नजर आ रहे हैं। अब हर दिन संक्रमितों का आंकड़ा घट रहा है और स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ रही है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर आने वाले कुछ सप्ताह तक यही स्थिति बनी रही तो राजधानी में कोरोना की चौथी लहर का ग्राफ नीचे आ जाएगा। अब 25 फीसदी से नीचे कोरोना संक्रमण दर आ गया है। 10 दिन में 10 फीसदी से ज्यादा की गिरावट हुई है। 24.29 फीसदी हुई संक्रमण दर। (26 अप्रैल को 35.02 फीसदी थी दर)। 24 घण्टे में 335 की मौत, कोरोना से मौत का कुल आंकड़ा, 18,398 तो सक्रिय मरीजों की संख्या 90,629 हुई। होम आइसोलेशन में 50,562 मरीज हैं। घटकर 7.11 फीसदी हुई सक्रिय कोरोना मरीजों की दर। रिकवरी दर 91.43 फीसदी हुई। 24 घण्टे में सामने आए 19,133 केस, कुल आंकड़ा 12,73,035, वहीं, 24 घण्टे में डिस्चार्ज हुए 20,028 मरीज, कुल आंकड़ा 11,64,008 है। 24 घण्टे में हुए 78,780 टेस्ट, टेस्ट का कुल आंकड़ा 1,75,97,532 है, (RTPCR टेस्ट 64,529 एंटीजन 14,251)। 49 हजार के पार हुआ हॉट स्पॉट्स का आंकड़ा, 49,123 हुए कंटेन्मेंट जोन्स और कोरोना डेथ रेट- 1.45 फीसदी हुआ। दिल्ली में इस समय संक्रमण के कुल मरीजों की संख्या 12 लाख के पार हो गई है। इनमें से 11 लाख लोग स्वस्थ हो चुके हैं। बीते तीन दिन की बात करें तो दैनिक संक्रमितो की संख्या लगातार कम हो रही है। 1 मई को कोरोना के 25,219 मामले आए थे, वहीं 2 मई को 20,394 और 3 मई को यह संख्या घटकर 18,043 हो गई। वहीं, स्वस्थ होने वालों की बात करें को 1 मई को 27,421 ठीक हुए, 2 मई को 24,444 और 3 मई को 20,293 लोगों ने कोरोना को मात दी। आंकड़ों पर गौर करें तो 1 से 3 मई के तक कुल 72 हजार से ज्यादा मरीज संक्रमण को मात दे चुके हैं। वहीं, इस दौरान कुल 63 हजार 656 मामले आए हैं। लिहाजा संक्रमितों के मुकाबले स्वस्थ होने वाले मरीजों की संख्या अधिक रही है। 28 मार्च के बाद ऐसा पहली बार है संक्रमितों के मुकाबले अधिक लोग स्वस्थ हुए हैं। इससे दिल्ली में कोरोना से रिकवरी दर 90 फीसदी से ज्यादा हो गई है।

कुंभ महामारी फैलाने वाली 'सप्रेडर घटना' न साबित हो

अकांशु उपाध्याय          
नई दिल्ली। उस वक़्त कइयों को इस बात का डर सता रहा रहा था कि कहीं कुंभ कोरोना महामारी फैलाने वाली "सुपर सप्रेडर घटना" न साबित हो।
कोरोना वायरस के लक्षण क्या हैं और कैसे कर सकते हैं बचाव।
कोरोना वैक्सीन: क्या वैक्सीन लेने के बाद भी मुझे कोविड हो सकता है?
ऐसा लग रहा है कि अब वो डर हक़ीक़त में तब्दील हो गया है। कुंभ से लौटकर आए लोगों की कोरोना रिपोर्ट अब पॉज़िटिव आ रही है और संभवत: देश के कई इलाक़ों में अब कुंभ संक्रमण के फैलने का कारण बन रहा है।
जब 15 मार्च को कुंभ आयोजन में हिस्सा लेने के लिए महंत शंकर दास हरिद्वार पहुँचे थे। तब देश के दूसरे हिस्सों में कोरोना के मामलों में तेज़ी देखी जा रही थी। 
आधिकारिक रूप से कुंभ मेले के शुरू होने से चार दिन पहले चार अप्रैल को 80 साल के हिंदु साधु महंत दास कोरोना पॉज़िटिव पाए गए। उन्हें अपने ही टेन्ट में क्वारंटीन में रहने की सलाह दी गई।
लेकिन आइसोलेशन में रहने की बजाय उन्होंने अपना सामान बांधा और ट्रेन पकड़ कर एक हज़ार किलोमीटर का सफ़र तय कर वाराणसी शहर पहुँच गए।
रेलवे स्टेशन में उन्हें उनके बेटे नागेन्द्र पाठक लेने आए थे. दोनों ने एक टैक्सी में रेलवे स्टेशन से लेकर वाराणसी से सटे मिर्ज़ापुर ज़िले में मौजूद अपने गांव तक का 20 किलोमीटर का सफ़र तय किया।
अपने घर से उन्होंने फ़ोन पर मुझे बताया कि अब उनकी तबीयत "बिल्कुल ठीक है" और जब से वो घर लौटे हैं, तब से क्वारंटीन में रह रहे हैं। उन्होंने कहा कि किसी को भी उनकी वजह से कोरोना संक्रमण नहीं हुआ है।
लेकिन उनके घर पहुँचने के कुछ दिनों बाद उनके बेटे और कई गांववालों में कोविड-19 के लक्षण दिखने लगे। महंत के बेटे नागेन्द्र पाठक ने बताया कि कोविड-19 संक्रमण से वो अब पूरी तरह स्वस्थ्य हैं।
उन्होंने कहा, "बीते एक पखवाड़े में गांव में बुख़ार और खांसी से 13 लोगों की मौत हो चुकी है।

एक ही गांव के 17 लोगों की मौंत से मचा हड़कंप

संदीप मिश्र  

सुल्तानपुर। कोरोना संक्रमण ने 2020 और 2021 में कहर बनकर टूटी है। इस महामारी के कारण किसी की ​मांग की सिंदूर उजड़ी तो किसी के घर का चिराग बुझा। महामारी से लोग अब बेहद ही त्रस्त हो गए है। वहीं उत्तर प्रदेश में पिछले तीन सप्ताह से मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। अनेक मामलों में कारण कोरोना नहीं माना जा रहा है, मगर मौत की यह रफ्तार डरा रही है। कुछ ऐसे ही हालात रायबरेली के सुल्तानपुर खेड़ा गांव की है।

दरअसल सुल्तानपुर खेड़ा गांव में पिछले एक सप्ताह में 17 लोगों की मौत हो गई। हैरान वाली बात ये है कि न उनकी कोई टेस्टिंग हुई और ना ही सही इलाज मिल पाया। खास बात है कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी यहां से सांसद हैं और डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा यहां के प्रभारी मंत्री हैं।रायबरेली के छोटे से गांव सुल्तानपुर खेड़ा, जिसकी आबादी 2000 लोगों की है, यहां लगभग 500 परिवार रहते हैं। बीते कुछ दिनों से हर तरफ मौत का मंजर दिखाई दे रहा है। हर घर में आंसू और मातम पसरा हुआ है। बीते दिनों में यहां पर 17 मौतें हो चुकी है, लेकिन प्रशासनिक उपेक्षा का शिकार यह गांव आज भी अपने किसी भगवान रूपी नेता का इंतजार कर रहा है। गांव में कोरोना लक्षण जैसे जुकाम और बुखार से इंफेक्शन की शुरुआत होती है और सांस लेने में तकलीफ के बाद मौत हो जाती है। गांव में दहशत का माहौल है। 17 मौतें होने के बावजूद जिला प्रशासन ने किसी तरह का कोई संज्ञान नहीं लिया है। ना कोई टीम गांव पहुंची है, ना सैनिटाइजेशन हुआ है, ना फागिंग और ना ही साफ सफाई का काम हुआ है।

मृतकों में शामिल राकेश शुक्ला और अवधेश गुप्ता की मृत्यु एल2 हॉस्पिटल रेल कोच में हुई है. बाकी लोगों की मृत्यु घरों में हुई है। गांव के 70 फ़ीसदी से अधिक लोग जुकाम और बुखार से पीड़ित हैं। गांव में दहशत का माहौल है। लोग बहुत डरे हुए हैं। सुल्तानपुर खेड़ा ग्राम सभा में 13 मजरे हैं, घर-घर रोना पीटना मचा है।गांव वालों की माने तो सरकार और प्रशासन दोनों ही पूरे मामले में लापरवाह रहे। कहीं से किसी प्रकार की कोई उपचार संबंधी मदद भी नहीं मिल पा रही है। गुरुवार को डीएम कैंप, कंट्रोल रूम, एडीएम प्रशासन और मुख्य चिकित्सा अधिकारी वीरेंद्र सिंह को सूचित किया गया है, लेकिन शाम तक कोई भी विभागीय टीम अथवा सैनिटाइजेशन की टीम गांव नहीं पहुंची है।

11 जून तक मरने वालों का आंकड़ा 4 लाख पार

राज्य सरकार को एचसी ने जमकर लगाईं फटकार

बिलासपुर। छत्तीसगढ़ सरकार एक बार फिर वैक्सीन को लेकर सुर्खियों में आ गई है। छत्तीसगढ़ में 18+ वैक्सीनेशन में आरक्षण के मामले में राज्य सरकार को हाईकोर्ट ने जमकर फटकार लगाते हुए झटका दिया है। विदित हो, कि प्रदेश में 18 प्लस आयुवर्ग के वैक्सीनेशन पर हाईकोर्ट के आदेश का हवाला देकर राज्य सरकार ने रोक लगा 6 मई को आदेश जारी कर वैक्सीनेशन पर रोक लगा दी थी। आज हाई कोर्ट में उसकी सुनवाई के दौरान बिलासपुर हाईकोर्ट ने सरकार को जमकर फटकार लगाते हुए अपनी नाराजगी व्यक्त की है। बिलासपुर हाईकोर्ट ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि “आज से ही प्रदेश में वैक्सीनेशन शुरू किया जाए। कोई बहानेबाजी नहीं चलेगी। एक तिहाई के हिसाब से सभी वर्ग का समान रूप से टीकाकरण किया जाए। अंत्योदय, एक तिहाई बीपीएल और एपीएल के भी एक तिहाई कार्डधारकों को शामिल करें। इसी फॉर्मूला के तहत आज से, अभी से ही प्रदेश सरकार जनता के लिए वैक्सीनेशन शुरू करें।”
उच्च न्यायालय ने सरकार से पूछे ये प्रश्न...
मा. उच्च न्यायालय ने सरकार को निर्देश जारी करते हुए पूछा कि राज्य को कितनी कम वैक्सीन मिल रही है और किस अनुपात में मिलना चाहिए ? उन्होंने साथ ही पूछा कि अगर वैक्सीन कम मिल रही है तो इतनी कम क्यों मिल रही है? हाईकोर्ट ने कहा कि प्रदेश सरकार अपना जवाब तैयार कर 10 मई को होने वाली अगली सुनवाई में हमारे प्रश्नों का उत्तर दें।
अंत्योदय कार्डधारियों को पहले वैक्सीन देने पर हाई कोर्ट में लगाई गई थी याचिका...
छत्तीसगढ़ में एक मई से 18 + आयुवर्ग का वैक्सीनेशन शुरू होने के बाद भूपेश सरकार ने इसे 06 मई को बंद कर दिया था ।सरकार ने दलील दी थी कि वैक्सीन कम आ रही हैं, इसी के चलते इसे रोका गया दरअसल, प्रदेश में आर्थिक आधार पर अंत्योदय राशन कार्ड धारियों को सर्वप्रथम टीकाकरण किया जा रहा था जिस पर अमित जोगी समेत कुछ लोगों ने हाई कोर्ट में हस्तक्षेप याचिका लगाई थी जिसकी सुनवाई के दौरान इस विषय पर हाई कोर्ट ने कहा था कि वैक्सीनेशन में सरकार को भेदभाव नहीं करना चाहिए। नए सिरे से रूपरेखा तैयार कर सरकार से कहकर मांगा था जिसके बाद सरकार के वैक्सीनेशन रोकने के फैसला करते हुए कहा था हाईकोर्ट के आदेशानुसार हमें कुछ वक्त लग सकता है इस लिए तब तक के लिए वैक्सिनेशन को प्रदेश में बन्द किया जा रहा है। इस पर अब हाईकोर्ट ने सरकार को फटकारते हुए नए निर्देश जारी कर दिए हैं।

कांग्रेस की हार से सबक लेने की जरूरत: सोनिया

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने चार राज्यों और एक केंद्रशासित प्रदेश के हालिया विधानसभा चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन को निराशाजनक करार देते हुए शुक्रवार को कहा कि इस हार से सबक लेने की जरूरत है।

कोरोना के हालात पर चर्चा के लिए बुलाई गई पार्टी सांसदों की डिजिटल बैठक में सोनिया ने यह भी कहा कि जल्द ही कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक होगी। जिसमें असम, केरल, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और पुडुचेरी के चुनाव नतीजों की समीक्षा की जाएगी। सोनिया ने पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और केरल में जीत के लिए ममता बनर्जी, एमके स्टालिन और वाम दलों को बधाई भी दी।उन्होंने कांग्रेस की चुनावी हार का उल्लेख करते हुए कहा, ”सबसे दुर्भाग्यपूर्ण बात है कि सभी राज्यों में हमारा प्रदर्शन निराशाजनक रहा है और मैं यह कह सकती हूं कि यह अप्रत्याशित है। ” सोनिया ने कहा, ”चुनाव नतीजों की समीक्षा के लिए जल्द सीडब्ल्यूसी की बैठक होगी, लेकिन यह कहना होगा कि एक पार्टी के तौर पर सामूहिक रूप से हमें पूरी विनम्रता एवं ईमानदारी के साथ इस झटके से उचित सीख लेनी होगी।”

गौरततलब है कि असम और केरल में सत्ता में वापसी का प्रयास कर रही कांग्रेस को हार झेलनी पड़ी। वहीं, पश्चिम बंगाल में उसका खाता भी नहीं खुल सका। पुडुचेरी में उसे करारी हार का सामना करना पड़ा जहां कुछ महीने पहले तक वह सत्ता में थी। तमिलनाडु में उसके लिए राहत की बात रही कि द्रमुक की अगुवाई वाले उसके गठबंधन को जीत मिली।

जमीनी रंजिश को लेकर 2 पक्षों में विवाद, 3 की मौंत

तारिक खान
रूड़की। रुड़की के खेड़ी खुर्द गांव में जमीनी रंजिश को लेकर दो पक्षों के बीच विवाद हो गया। कब्रिस्तान से शव दफनाकर लौट रहे एक पक्ष के लोगों पर दूसरे पक्ष ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी। गोली लगने से तीन लोगों की मौत हो गई। जबकि पांच अन्य लोग भी घायल हो गए। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। एसएसपी और एसपी देहात ने भी गांव पहुंचकर घटना की जानकारी ली।
पुलिस के मुताबिक, लक्सर कोतवाली के खेड़ी खुर्द गांव निवासी हुसैन का गांव के ही जुल्फिकार पक्ष के साथ विवाद चल रहा था। बताया कि गुरुवार सुबह भी दोनों पक्षों के बीच खेत में सिंचाई करने वाली मोटर को लेकर कुछ विवाद हुआ। उस समय मामला शांत हो गया। इसके बाद हुसैन पक्ष के परिवार में एक महिला की मौत होने पर वह सभी महिला को दफनाने के लिए कब्रिस्तान गए थे। महिला को दफनाकर वह जब लौट रहे थे, तभी रास्ते में पहले से घात लगाकर बैठे दूसरे पक्ष के व्यक्तियों ने उन पर हमला बोल दिया। हमलावरों ने उनके ऊपर ताबड़तोड़ गोलियां चलाई।
बताया जाता है कि खेत में मेढ़ को लेकर दोनों पक्षों में गुरूवार को सुबह कहासुनी हो गई और जमकर मारपीट हुई थी। इसमें दोनों पक्षों के दो युवक घायल हो गए थे। उन्होंने इसकी जानकारी पुलिस को दिया था। पुलिस ने उन्हें मेडिकल के लिए भेज दिया। इसी दौरान हुसैन पक्ष के परिवार में एक महिला की मौत हो गई थी जिसका दाफीन आज होना था। लोग महिला का शव दफनाकर घर लौट रहे थे। जैसे ही वे दूसरे पक्ष के घर के पास पहुंचे तो उन्होंने तमंचे और बंदूकों से अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। फायरिंग में सात लोग गोली लगने से घायल हो गए।
आननफानन परिजन उन्हें लेकर लक्सर सीएचसी पहुंचे। यहां डॉक्टरों ने उनकी हालत गंभीर देखते हुए उन्हें हायर सेंटर रेफर कर दिया। पुलिस का कहना है कि हुसैन (50) पुत्र तैमूर, शहजान उर्फ कालू (45) पुत्र अहमद और मोहम्मद कैफ पुत्र तस्लीम ने हायर सेंटर पहुंचने से पहले रास्ते में दम तोड़ दिया। वहीं, गंभीर घायल जहीर पुत्र लतीफ, गयूर व रिजवान पुत्र जहीर, सैफ पुत्र इंतखाब को अस्पताल में भर्ती कराया गया।
घटना की जानकारी मिलते ही एसएसपी डी सेंथिल अबूदई कृष्णराज एस और एसपी देहात प्रमेंद्र डोबाल ने भी ग्रामीणों से घटना की जानकारी ली। गांव में तनाव को देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। एसएसपी ने बताया कि तहरीर आने पर मुकदमा दर्ज किया गया। फिलहाल गोली चलाने वालों की तलाश की जा रही है।

रंगासामी ने बतौर पुडुचेरी के मुख्यमंत्री शपथ लीं

पुडुचेरी। एआईएनआरसी नेता एन रंगासामी ने शुक्रवार को यहां राज निवास में हुए एक संक्षिप्त समारोह में पुडुचेरी के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली। उपराज्यपाल तमिलिसाई सौंदराराजन ने रंगासामी को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। वह चौथी बार मुख्यमंत्री बने हैं। उन्होंने ईश्वर को साक्षी मानकर तमिल भाषा में पद की शपथ ली। शुक्रवार को केवल रंगासामी ने शपथ ली।

वह राजग सरकार की अगुवाई करेंगे जिसमें एआईएनआरसी और भारतीय जनता पार्टी शामिल हैं। एआईएनआरसी पार्टी सूत्रों ने बताया कि पार्टी और भाजपा के अन्य मंत्रियों को अगले कुछ दिनों में शपथ दिलाई जाएगी। इससे पहले, मुख्य सचिव अश्विन कुमार ने रंगासामी को मुख्यमंत्री नियुक्त करने वाली, राष्ट्रपति की अधिसूचना को पढ़ा। यह समारोह दोपहर एक बजकर 20 मिनट पर शुरू हुआ और महज पांच मिनट तक चला।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को ऑल इंडिया एन आर कांग्रेस के नेता एन रंगासामी को पुडुचेरी के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने पर बधाई दी और नए कार्यकाल के लिए उन्हें शुभकामनाएं दीं। मोदी ने ट्वीट कर कहा, ”पुडुचेरी के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने पर मैं एन रंगासामी को बधाई देता हूं। उनके कार्यकाल के लिए उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं।”

संक्रमितों की संख्या 15.60 करोड़ से अधिक हुईं

वाशिंगटन/रियो डि जेनेरो/नई दिल्ली। विश्व भर में कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमण के फिर तेजी से फैलने के बीच संक्रमितों की संख्या 15.60 करोड़ से अधिक हो गई और 32.56 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। अमेरिका की जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के विज्ञान एवं इंजीनियरिंग केंद्र (सीएसएसई) की ओर से जारी ताजा आंकड़ों के अनुसार दुनिया के 192 देशों एवं क्षेत्रों में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 15 करोड़ 60 लाख 88 हजार 575 हो गयी है, जबकि 32 लाख 56 हजार 675 लोगों की मौत हो चुकी है।

वैश्विक महाशक्ति माने जाने वाले अमेरिका में कोरोना वायरस का कहर तेजी से बढ़ता जा रहा है तथा यहां संक्रमितों की संख्या 3.26 करोड़ हो गयी है जबकि 5.80 लाख मरीजों की इस महामारी से मौत हो चुकी है। दुनिया में कोरोना संक्रमितों के मामले में भारत दूसरे स्थान पर और मृतकों के मामले में चौथे स्थान पर है। पिछले 24 घंटे में 4,14,188 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 2.14 करोड़ हो गया। इस दौरान 3.31 लाख मरीज स्वस्थ होने के साथ इससे निजात पाने वालों की कुल संख्या 1.76 करोड़ हो गयी है। वहीं इस बीमारी से मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 2.24 लाख हो गया है।ब्राजील संक्रमितों के मामले में अब तीसरे स्थान पर है। देश में कोरोना संक्रमण के मामले फिर से बढ़ रहे हैं और अभी तक इससे 1.50 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 4.16 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। ब्राजील कोरोना से मौतों के मामले में विश्व में दूसरे स्थान पर है। संक्रमण के मामले में फ्रांस चौथे स्थान पर है जहां कोरोना वायरस से अब तक 57.89 लाख लोग प्रभावित हुए हैं जबकि 1.06 लाख मरीजों की मौत हो चुकी है।

कोरोना प्रभावित के मामले में तुर्की रूस से आगे निकल गया है और यहां कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या 49.77 लाख से अधिक पहुंच गयी है और 41,187 लोगाें की मौत हो चुकी है। रूस में कोरोना संक्रमितों की संख्या 47.99 लाख से अधिक हो गई है और इसके संक्रमण से 1.10 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। ब्रिटेन में कोरोना वायरस प्रभावितों की कुल संख्या 44.44 लाख से अधिक हो गयी है और 1.27 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों के मामले में ब्रिटेन पांचवें स्थान पर है। इटली में कोरोना प्रभावितों की कुल संख्या 40.82 लाख से अधिक हो गयी है और 1.22 लाख लोगों की मौत हो चुकी है।

स्पेन में इस महामारी से 35.59 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हुए हैं और 78,726 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना संक्रमण के मामले में जर्मनी दसवें स्थान पर है और यहां इस वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या 35.02 लाख से अधिक हो गई है और 84,428 लोगों की मौत हो चुकी है। अर्जेंटीना में कोरोना संक्रमितों की संख्या 30.95 लाख से ज्यादा हो गयी है और इसके संक्रमण से 66,263 लोगों की जान जा चुकी है। कोलंबिया में कोरोना वायरस से 29.51 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 76,414 लोगों ने जान गंवाई है।

पोलैंड में कोरोना से 28.18 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और इस महामारी से 68,993 लोग जान गंवा चुके हैं। ईरान ने कोरोना संक्रमितों के मामले में मेक्सिको को पीछे छोड़ दिया है यहां कोरोना वायरस से 26.10 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और 73,906 लोगों की मौत हो चुकी है। मैक्सिको में कोरोना से 23.58 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं और यह देश मृतकों के मामले विश्व में चौथे स्थान पर है जहां अभी तक इस वायरस के संक्रमण से 2.18 लाख लोगों की मौत हो चुकी है।

यूक्रेन में संक्रमितों की संख्या 21.60 लाख से अधिक है और 47,710 लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं। पेरू में संक्रमितों की संख्या 18.24 लाख के पार पहुंच गयी है, जबकि 62,976 लोगों की जान जा चुकी है। इंडोनेशिया में भी कोरोना संक्रमण के मामले 16.97 लाख के पार पहुंच गये हैं जबकि 46,496 लोगों की मौत हो चुकी है। दक्षिण अफ्रीका में कोरोना वायरस से 15.90 लाख से अधिक लोग प्रभावित हो चुके हैं और 54,620 लोगों की मौत हो चुकी है। नीदरलैंड में कोरोना से अब तक 15.65 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए है और यहां इस महामारी से 17,525 लोगों की मौत हो चुकी है।

पड़ोसी देश पाकिस्तान में अब तक कोरोना से 8.50 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 18,677 मरीजों की मौत हो चुकी है। एक अन्य पड़ोसी देश बंगलादेश में भी कोरोना का प्रकोप जारी है जहां 7.69 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं और 11,796 मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा चीन जहां से कोरोना वायरस संक्रमण की शुरुआत हुई, वहां कोरोना से अब तक 1,02,586 लोग संक्रमित हुए हैं और 4,846 लोगों की इस महामारी में जान जा चुकी है। इसके अलावा दुनिया में अन्य देशों में भी कोरोना वायरस से स्थिति खराब है।

खतरे की घंटी कब बजी, मची अफरा-तफरी: मौरिस

जोहानिसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका और राजस्थान रॉयल्स के आलराउंडर क्रिस मौरिस ने कहा कि इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के जैव सुरक्षित वातावरण (बायो बबल) में कोविड-19 के मामले पाये जाने के बाद अफरातफरी का माहौल बन गया था और वह स्वदेश लौटकर राहत महसूस कर रहे हैं। आईपीएल को स्थगित किये जाने के बाद मौरिस और 10 अन्य दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी स्वदेश लौट गये हैं। आईपीएल में कोविड-19 के छह मामले पाये गये थे जिसमें चार खिलाड़ी और दो कोच शामिल थे।अभी अपने घर में 10 दिन के अनिवार्य पृथकवास पर रह रहे मौरिस ने आईओएल.सीओ.जेडए से कहा, ”निश्चित तौर पर मैं राहत महसूस कर रहा हूं।” मौरिस ने कहा कि उन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स के दो खिलाड़ियों वरुण चक्रवर्ती और संदीप वारियर के पॉजिटिव पाये जाने के बारे में रविवार की रात को पता चला। उन्होंने कहा, ”जैसा ही हमें इस बारे में पता चला कि बायो बबल के अंदर खिलाड़ी पॉजिटिव पाये गये हैं तो सभी ने सवाल करने शुरू कर दिये। हम सभी के अंदर निश्चित तौर पर खतरे की घंटी बजनी शुरू हो गयी थी। ”

मौरिस ने कहा, ”सोमवार तक जब उन्होंने वह मैच (कोलकाता और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर) स्थगित किया तब तक हमें पता चल गया था कि टूर्नामेंट जारी रखने के लिये दबाव बना हुआ है। ” सनराइजर्स हैदराबाद के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा और दिल्ली कैपिटल्स के अमित मिश्रा के मंगलवार को पॉजिटिव आने के बाद इस टी20 लीग को स्थगित कर दिया गया था। चेन्नई सुपरकिंग्स के गेंदबाजी कोच एल बालाजी और बल्लेबाजी कोच माइकल हसी भी वायरस से संक्रमित पाये गये थे।

मौरिस ने कहा, ”मैं अपनी टीम के डॉक्टर से बात कर रहा था। कुमार संगकारा ने तब इशारा किया और तब हमें पता चला कि अब टूर्नामेंट आगे नहीं बढ़ पाएगा। इसके बाद का माहौल अफरातफरी वाला था। इंग्लैंड के खिलाड़ी विशेषरूप से घबराये हुए थे क्योंकि उन्हें इंग्लैंड में होटलों में अलग थलग रहने की जरूरत थी और जाहिर था कि उनके पास कमरे नहीं थे। ”

आस्ट्रेलियाई एंडूयू टाइ की जगह चुने गये गेराल्ड कोएट्जी पिछले सप्ताह ही भारत पहुंचे थे और मौरिस ने कहा कि वह इस युवा तेज गेंदबाज को धीरज बंधा रहे थे क्योंकि वह अधिक घबराया हुआ था। उन्होंने कहा, ”मैं जानता था कि गेराल्ड अधिक घबराया हुआ है। मेरे कहने का मतलब है कि वह अभी 20 साल का है और उसके सामने यह सब कुछ हो गया। मैंने उसे धीरज बंधाने की कोशिश की। ”

सर्वदलीय बैठक बुलाए सरकार, जवाबदेही तय हो

हरिओम उपाध्याय   

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि कोरोना महामारी से देश की स्थिति अत्यंत गंभीर हो गयी है और सरकार के लिए इससे निपटना कठिन हो रहा है इसलिए हालत को नियंत्रित करने के लिए तत्काल सर्वदलीय बैठक बुलाई जानी चाहिए। सोनिया ने कहा, ”कांग्रेस स्थायी समिति की बैठक बुलाने की मांग करती है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि महामारी से बेहतर तरीके से लड़ने के लिए सामूहिक कार्रवाई, जवाबदेही तय हो।”

सोनिया गांधी ने शुक्रवार को यहां वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कांग्रेस संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के विकराल रूप के समक्ष व्यवस्था चरमरा गई है और सरकार स्थिति से निपटने में सफल नहीं हो पा रही है। उन्होंने कहा कि स्थिति की गंभीरता को देखते हुए महामारी से निपटने के लिए सर्वदलीय बैठक बुलाई जानी चाहिए और कोरोना से कैसे मुक्ति मिले इस बारे में सब की राय ली जानी चाहिए क्योंकि महामारी से अब जो स्थिति पैदा हो गयी है उससे सामूहिक रूप से ही इस निपटा जा सकता है।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस महामारी का मुकाबला सामूहिक रूप से ही किया जा सकता है इसलिए ठोस रणनीति अपनाने के लिए और सामूहिक रूप से कदम उठाने के लिए संसद की स्थाई समिति की बैठक भी बुलाई जानी चाहिए।

सोनिया गांधी ने कहा कि कोरोना को लेकर जो हालात पैदा हुए है उसको लेकर संसद की स्वास्थ्य मंत्रालय से संबद्ध स्थायी समिति ने पहले ही चेतावनी दे दी थी लेकिन सरकार ने समिति की चेतावनी को नजरअंदाज किया जिसके कारण यह संकट पैदा हुआ है। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों ने भी महामारी से लड़ने के लिए ऑक्सीजन, दवाइयों और वेंटिलेटर की पर्याप्त आपूर्ति जारी रखने की सरकार को राय दी थी लेकिन मोदी सरकार ने विशेषज्ञों की राय को भी अनसुना कर दिया।कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि सरकार ने कोरोना टीकाकरण को लेकर भी कोई रणनीति नहीं बनाई है। संसद ने केंद्रीय बजट में नागरिकों के निशुल्क टीकाकरण के लिए 35 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान किया है लेकिन सरकार अब भी राज्यों पर कोरोना से जुड़े भार को डाल रही है और उसे कम करने के लिए कोई उपाय नहीं कर रही है। उन्होंने अरोप लगाया कि विपक्ष की तरफ से केंद्र सरकार को महामारी से निपटने के लिए जो भी सुझाव दिए जा रहे हैं सरकार उनको गंभीरता से नहीं ले रही है।

केंद्र को एससी की फटकार,आपूर्ति जारी रखनी होगी

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को केंद्र को स्पष्ट कर दिया कि उसे शीर्ष अदालत के अगले आदेश तक रोजाना दिल्ली को 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति जारी रखनी होगी। साथ ही न्यायालय ने कहा कि इसपर अमल होना ही चाहिए तथा इसके अनुपालन में कोताही उसे सख्ती करने पर मजबूर करेगी।

दो दिन पहले, शीर्ष अदालत ने दिल्ली को कोविड के मरीजों के लिए 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति के निर्देश का अनुपालन नहीं करने पर केंद्र सरकार के अधिकारियों के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा शुरू की गई अवमानना की कार्यवाही पर यह कहते हुए रोक लगा दी थी कि ”अधिकारियों को जेल में डालने से” ऑक्सीजन नहीं आएगी और प्रयास जिंदगियों को बचाने के लिए किए जाने चाहिए। हालांकि, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति एम आर शाह की पीठ ने कहा कि केंद्र को राष्ट्रीय राजधानी को हर दिन 700 मीट्रिक टन तरल चिकित्सीय ऑक्सीजन (एलएमओ) की आपूर्ति सुनिश्चित करनी होगी।वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई कार्यवाही में दिल्ली सरकार की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता राहुल मेहरा ने शुक्रवार को पीठ को बताया कि राष्ट्रीय राजधानी को “आज सुबह नौ बजे तक 86 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिली और 16 मीट्रिक टन मार्ग में है।” पीठ ने कहा, “हम चाहते हैं कि दिल्ली को हर दिन 700 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाए और यह होना ही चाहिए, हमें उस स्थिति में आने पर मजबूर न करें जहां हमें सख्त होना पड़े।”

साथ ही कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए कि एक दिन के लिए आपूर्ति की गई और फिर “टैंकर नहीं हैं” और परिवहन में दिक्कतें हैं जैसे कई विरोध-पत्र दायर किए जा रहे हैं। पीठ के लिए न्यायमू्र्ति चंद्रचूड़ ने कहा कि उन्होंने शुक्रवार को सुनवाई से पहले मुद्दे पर न्यायमूर्ति शाह से विचार-विमर्श किया है और दिल्ली को हर दिन 700 मीट्रिक टन एलएमओ दिए जाने को लेकर सर्वसम्मति बनी है। पीठ ने कहा, “हम चाहते हैं कि दिल्ली को 700 मीट्रिक टन एलएमओ दी जाए और हमारा मतलब है कि यह निश्चित तौर पर होना चाहिए। इसकी आपूर्ति करनी ही होगी और हम दंडात्मक कार्रवाई नहीं करना चाहते। हमारे आदेश को अपलोड होने में दोपहर तीन बजेंगे लेकिन आप काम पर लगें और ऑक्सीज का प्रबंध करें।” इससे पहले शीर्ष अदालत ने कहा था कि यह पूरे भारत में वैश्विक महामारी की स्थिति है और हमें राष्ट्रीय राजधानी को ऑक्सीजन आपूर्ति सुनिश्चित करने के तरीके तलाश करने होंगे।

राज्य में हिंसा और झड़प के मामलों पर चिंता जताई

संदीप मिश्र  
लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के बाद जगह-जगह हो हिंसा और झड़प की घटनाओं पर चिंता जताते हुये सरकार से आवश्यक कदम उठाने की मांग की है।बसपा नेता ने शुक्रवार को ट्वीट किया,”उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव के बाद जिस प्रकार से राजनीतिक हिंसा, झड़प, आगजनी व अन्य आपराधिक घटनाएं लगातार घटित हो रही हैं, यह अति-दुःखद व अति-चिन्ताजनक। राज्य सरकार को इस मामले में गंभीर होकर तत्काल आवश्यक कदम उठाने की सख्त जरूरत। बीएसपी की यह मांग।”उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश में हाल ही में संपन्न हुये पंचायत चुनाव के बाद गोरखपुर सहित कई जिलो से हिंसा, झड़प और आगजनी की खबरें आ रही हैं।

अधिक रेट-मुनाफाखोरी पर नकेल कसने की तैयारी

पंकज कपूर  
हल्द्वानी। कोरोनाकाल में कालाबाजारी जोरों पर है। पैसों के लिए लोग मानवता भी भूल चुके है। जब जहां मौका मिल रहा वहां मुनाफखोरी शुरू कर रहे है। दवाईयों से लेकर सब्जी तक के दामों में बेतहासा वृद्धि कर गरीब लोगों को चूना लगाने का काम कर रहे है। लॉकडाउन में घर बैठने के बाद गरीब जनता दो वक्त की सब्जी भी महंगे दामों के चलते खा नहीं पा रही है लेकिन मुनाफाखोरों का दिल फिर भी नहीं पसीज रहा है। ऐसे में प्रशासन ने सख्त कदम उठाते हुए कहा है कि अगर किसी भी सब्जी विक्रेता ने लॉकडाउन में महंगे दामों पर सब्जी बेची तो प्रशासन उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करेगा।
जिला प्रशासन को को लगातार सब्जी महंगे दामों पर बेचने की शिकायत मिल रही थी। जिसके बाद प्रशासन ने सख्त कार्यवाही करने के निर्देश दिये है। एसडीएम विवेक राय ने बताया कि सब्जी के रेट निर्धारित कर दिए हैं और शुक्रवार से जिले भर में चेकिंग अभियान चलाया जाएगा। यदि कोई सब्जी विक्रेता किसी व्यक्ति को महंगे दामों में सब्जी बेचता मिला तो उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जायेगी। वही अगर आपकों कोई महंगे दामों पर सब्जी बेचता है तो आप 9411102121 और 9458318888 मोबाइल नंबरों पर शिकायत सकते है।

पूरा देश वायरस की गिरफ्त में, पीएम को पत्र लिखा

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया कि कोरोना वायरस के सभी स्वरूपों का वैज्ञानिक तरीकों से पता लगाने के साथ ही पूरी दुनिया को इस बारे में अवगत कराया जाए तथा सभी भारतीय नागरिकों को जल्द टीका लगाया जाए।

उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर यह आरोप भी लगाया कि सरकार की विफलता के कारण देश एक बार फिर से राष्ट्रीय स्तर के लॉकडाउन के मुहाने पर खड़ा हो गया है और ऐसे में गरीबों को तत्काल आर्थिक मदद दी जाए ताकि उन्हें पिछले साल की तरह पीड़ा से नहीं गुजरना पड़े।पत्र में राहुल गांधी ने कहा, ”मैं आपको एक बार फिर पत्र लिखने के लिए विवश हुआ हूं क्योंकि हमारा देश कोविड सुनामी की गिरफ्त में बना हुआ है। इस तरह के अप्रत्याशित संकट में भारत के लोग आपकी सबसे बड़ी प्राथमिकता होने चाहिए। मैं आपसे आग्रह करता हूं कि आप देश के लोगों को इस पीड़ा से बचाने के लिए जो भी संभव हो, वह करिए।”

उन्होंने कहा, ”दुनिया के हर छह लोगों में से एक व्यक्ति भारतीय है। इस महामारी से अब यही पता चला है कि हमारा आकार, आनुवांशिक विविधता और जटिलता से भारत में इस वायरस के लिए बहुत ही अनुकूल माहौल मिलता है कि वह अपने स्वरूप बदले तथा अधिक खतरनाक स्वरूप में सामने आए। मुझे डर इस बात का है कि जिस ‘डबल म्यूटेंट’ और ‘ट्रिपल म्यूटेंट’ को हम देख रहे हैं, वह शुरुआत भर हो सकती है।” उनके मुताबिक, इस वायरस का अनियंत्रित ढंग से प्रसारित होना न सिर्फ हमारे देश के लोगों के लिए घातक होगा, बल्कि शेष दुनिया के लिए भी होगा।

उन्होंने प्रधानमंत्री को सुझाव दिया, ”इस वायरस एवं इसके विभिन्न स्वरूपों के बारे में वैज्ञानिक तरीके से पता लगाया जाए। सभी नए म्यूटेशन के खिलाफ टीकों के असर का आकलन किया जाए। सभी लोगों को तेजी से टीका लगाया जाए। पारदर्शी रहा जाए और शेष दुनिया को हमारे निष्कर्षों के बारे में अवगत कराया जाए।”

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार के पास कोविड के खिलाफ टीकाकरण को लेकर कोई स्पष्ट रणनीति नहीं हैं और सरकार ने उसी समय इस महामारी पर विजय की घोषणा कर दी जब यह वायरस फैल रहा था। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की विफलता के कारण आज राष्ट्रीय स्तर पर लॉकडाउन अपरिहार्य लगता है।

कांग्रेस नेता ने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि इस स्थिति को देखते हुए कमजोर तबकों के लोगों को वित्तीय मदद और खाद्य सामाग्री उपलब्ध कराई जाए ताकि लॉकडाउन के कारण गरीबों को उस पीड़ा को न झेलना पड़े जो उन्हें पिछले साल के लॉकडाउन के समय झेलनी पड़ी थी। उन्होंने कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में पूरे सहयोग का भरोसा दिलाते हुए कहा कि इस संकटकाल में विभिन्न पक्षों को विश्वास में लिया जाए ताकि सब मिलकर भारत को सुरक्षित रखने के लिए काम कर सकें।

पेट्रोल 102 रुपये प्रति लीटर की ऊंचाई तक पहुंचा

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। राजस्थान और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में पेट्रोल का दाम 102 रुपये प्रति लीटर की ऊंचाई तक पहुंच चुका है। तेल कंपनियों के लगातार चौथे दिन पेट्रोल, डीजल के दाम बढ़ाने से यह स्थिति बनी है। हालांकि, इससे पहले पांच राज्यों में जारी विधानसभा चुनावों के दौरान दो सप्ताह से अधिक समय तक दाम में कोई बदलाव नहीं किया गया।

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों द्वारा जारी अधिसूचना के मुताबिक शुक्रवार को पेट्रोल के दाम में 29 पैसे और डीजल के दाम में 31 पैसे प्रति लीटर की तेज वृद्धि की गई। इस वृद्धि के बाद दिल्ली में पेट्रोल का खुदरा मूल्य 91.27 रुपये प्रति लीटर हो गया जबकि डीजल का दाम 81.73 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया। राजस्थान के गंगानगर जिले में इस वृद्धि के बाद पेट्रोल का दाम 102.15 रुपये लीटर पर पहुंच गया। तेल कंपनियों के मूल्य चार्ट में यह दर्शाया गया है।वहीं मध्यम प्रदेश के अनुपपुर में पेट्रोल का दाम 101.86 रुपये लीटर हो गया है जबकि महाराष्ट्र के परभनी में यह 99.95 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच चुका है। इस साल यह दूसरा मौका है जब देश के कुछ हिस्सों में पेट्रोल का दाम 100 रुपये प्रति लीटर से ऊपर निकल गया। इससे पहले फरवरी मध्य में पेट्रोल का दाम इस आंकड़े से ऊपर निकला था।

ईंधन के खुदरा दाम अलग अलग राज्यों में भिन्न होते हैं। राज्यों में मूल्य वर्धित कर (वैट) की दर और माल पहुंचाने का भाड़ा अलग होना इसकी मुख्य वजह होती है। देश में राजस्थान में पेट्रोल पर सबसे अधिक वैट लगता है, उसके बाद मध्य प्रदेश का स्थान आता है। शुक्रवार को लगातार चौथा दिन रहा है जब तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाये हैं।

वहीं इससे पहले विधानसभा चुनावों के दौरान 18 दिन तक इनके दाम में कोई बदलाव नहीं किया गया। चार दिन की वृद्धि में पेट्रोल के दाम 88 पैसे और डीजल के दाम में एक रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हो चुकी है।

इस वृद्धि से 24 मार्च से लेकर 15 अप्रैल के बीच दाम में जो कमी आई थी वह समाप्त हो चुकी है। इस दौरान तेल कंपनियों ने पेट्रोल का दाम 67 पैसे और डीजल के दाम में 74 पैसे प्रति लीटर की कटौती की थी। तेल कंपनियों का कहना है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का दाम लगातार ऊंचा बना हुआ है। कच्चे तेल का दाम 70 डालर प्रति बैरल के आसपास चल रहा है।

10,000 ऑक्सीजन सांद्रक, मेडिकल मास्क भेजें

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र की कई एजेंसियों ने कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए भारत को करीब 10,000 ऑक्सीजन सांद्रक और करीब एक करोड़ मेडिकल मास्क भेजे हैं। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बृहस्पतिवार को नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘भारत में संयुक्त राष्ट्र का दल महामारी से निपटने के लिए राष्ट्रीय और स्थानीय दोनों सरकारों का सहयोग कर रहा है।’’

उन्होंने कहा कि यूनीसेफ, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या निधि (यूएनएफपीए) ने करीब 10,000 ऑक्सीजन सांद्रक, एक करोड़ मेडिकल मास्क और 15 लाख से अधिक फेस शील्ड दी हैं। संयुक्त राष्ट्र के दल ने वेंटीलेटर्स और ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र भी खरीदे हैं। यूनीसेफ कोविड-19 रोधी टीकों को रखने के लिए ‘कोल्ड चेन’ उपकरण भी उपलब्ध करा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे दल ने जांच मशीनों और किट के साथ ही थर्मल स्कैनर भी दिए हैं।’’

यूनीसेफ और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) भारत में 175,000 से अधिक टीकाकरण केंद्रों की निगरानी करने में भी मदद कर रहा है। डब्ल्यूएचओ ने बताया कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के 46 प्रतिशत मामले भारत में है और पिछले हफ्ते इस महामारी से दुनियाभर में जान गंवाने वाले लोगों में 25 प्रतिशत लोगों की मौत भारत में हुई।

अमेरिका: भारत को मदद की जरूरत, नैतिक दायित्व

हरिओम उपाध्याय  
वाशिंगटन। भारतीय-अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने कहा कि अमेरिका का यह नैतिक दायित्व है कि वह कोरोना वायरस महामारी को हराने में भारत की मदद करें। भारत में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के रिकॉर्ड 4,12,262 नए मामले आए और 3,980 लोगों की मौत हुई।
अमेरिका की प्रतिनिधि सभा में पहली और इकलौती भारतीय-अमेरिकी सांसद जयपाल ने कहा, ‘‘भारत में स्थिति गंभीर है। हर दिन कोविड-19 के लाखों मामले आ रहे हैं, अस्पतालों में बिस्तर नहीं हैं या ऑक्सीजन की आपूर्ति खत्म हो गई है और डॉक्टर के पास जाने से पहले ही लोग मर रहे हैं।’’जयपाल ने कहा, ‘‘भारत को हमारी मदद की जरूरत है और यह हमारा नैतिक दायित्व है कि हम स्थानीय, संघीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मदद करें ताकि वैश्विक महामारी को हराया जा सकें। हमें वैश्विक स्तर पर काम करने की आवश्यकता है।’’ जयपाल कोविड-19 से संक्रमित होने के कारण अस्पताल में भर्ती अपने माता-पिता से मिलने हाल ही में भारत आयी थीं। प्रतिनिधि सभा में शक्तिशाली प्रोग्रेसिव कॉकस की अध्यक्ष जयपाल ने बृहस्पतिवार को अमेरिका में भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू के साथ वर्चुअल बैठक भी की।

जयपाल ने कहा कि उन्होंने बाइडन प्रशासन से टीका निर्माण के लिए कच्चा माल उपलब्ध कराने, अमेरिका में इस्तेमाल न किए गए टीके भारत को भेजने और विश्व व्यापार संगठन में बौद्धिक संपदा अधिकार के नियमों में छूट देने के प्रस्ताव का समर्थन करने के भारत के अनुरोध को स्वीकार करने का बार-बार आग्रह किया है।

उन्होंने कहा, ‘‘बाइडन प्रशासन ने मेरे अनुरोध को जल्द से जल्द स्वीकार करने की इच्छा तब जताई है जब अमीर देशों ने दुनियाभर में 80 प्रतिशत से अधिक टीके ले लिए हैं जबकि कम आय वाले देशों को महज 0.3 प्रतिशत टीके मिले हैं।’’ जयपाल ने कोविड-19 महामारी के बीच अमेरिका में एशियाई विरोधी घृणा बढ़ने की भी निंदा की है।

रिकॉर्ड: 4,14,188 कोरोना के नए मामले मिलें

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। देश में कोविड-19 के एक दिन में रिकॉर्ड 4,14,188 नए मामले सामने आने के बाद कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले 2,14,91,598 हो गए जबकि देश में 36 लाख से अधिक सक्रीय मरीज अब भी इस बीमारी की चपेट में हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 3,915 लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या 2,34,083 हो गई है।लगातार बढ़ते मामलों के बीच उपचाराधीन मरीजों की संख्या 36,45,164 हो गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 16.96 प्रतिशत है जबकि देश में कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर घटकर 81.95 प्रतिशत हो गई है।आंकड़ों के मुताबिक, बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की कुल संख्या 1,76,12,351 हो गई है जबकि बीमारी से मरने वालों की दर 1.09 फीसदी दर्ज की गई। देश में कोविड-19 के मरीजों की संख्या पिछले साल सात अगस्त को 20 लाख को पार कर गई थी। वहीं कोविड-19 मरीजों की संख्या 23 अगस्त को 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख के आंकड़े को पार कर गई थी।

इसके बाद 28 सितंबर को कोविड-19 के मामले 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख, 19 दिसंबर को एक करोड़ के पार हो गए थे। भारत ने चार मई को गंभीर स्थिति में पहुंचते हुए दो करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया था।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के मुताबिक, छह मई तक 29,86,01,699 नमूनों की जांच की गई है जिनमें से 18,26,490 नमूनों की बृहस्पतिवार को जांच की गई। मौत के नये मामलों में, सर्वाधिक 853 मौत महाराष्ट्र में, उत्तर प्रदेश में 350, दिल्ली में 335, कर्नाटक में 328, छत्तीसगढ़ में 212, तमिलनाडु में 195, हरियाणा में 177, पंजाब में 154, उत्तराखंड में 151, झारखंड में 133, गुजरात में 123, पश्चिम बंगाल में 117 लोगों की मौत हो गई।

देश में अबतक हुई कुल 2,34,083 मौत में से 73,515 महाराष्ट्र में, 18,398, दिल्ली में, 17,212 लोगों की कर्नाटक में, 14,974 की तमिलनाडु में, 14,501 उत्तर प्रदेश में, 11,964 लोगों की पश्चिम बंगाल में, 9,979 की पंजाब में, 9,645 लोगों की पंजाब में और 9,950 की छत्तीसगढ़ में मौत हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 70 प्रतिशत से अधिक मरीजों की मौत अन्य गंभीर बीमारियों के कारण हुई है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण    
1. अंक-265 (साल-02)
2. शनिवार, मई 8, 2021
3. शक-1984,बैसाख, कृष्ण-पक्ष, तिथि- एकादशी, विक्रमी सवंत-2078। 
सहरी 04:07, इफ्तार 07:04। 25 रमजान, हिजरी 1442।
4. सूर्योदय प्रातः 06:05, सूर्यास्त 06:59।
5. न्‍यूनतम तापमान -11 डी.सै., अधिकतम-33+ डी.सै.।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित) 

अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...