शुक्रवार, 29 जनवरी 2021

आंदोलन: किसानों की आवाज दबाने की कोशिश

संदीप मिश्र   

बरेली। दिल्ली बवाल के बाद किसान आंदोलन को लेकर कई किसान संगठन के स्थानीय नेता अपने-अपने नेतृत्व के आगामी दिशा निर्देश मिलने के इंतजार में हैं। वहीं, भाकियू से जुड़े तमाम नेता शुक्रवार दोपहर में आंदोलन के समर्थन में दिल्ली के लिए कूच कर गए। इधर, प्रशासन ने भी किसान संगठनों के आगमी रुख को लेकर निगरानी बना रखी है। दरअसल, दिल्ली के आंदोलन के दौरान परिस्थितियां बदलने के बाद से सभी किसान संगठन सकते में हैं। भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिंह ने बताया गणतंत्र दिवस पर खुराफातियों ने लालकिला पर उप्रदव कर माहौल बिगाड़ा इसी आड़ में पुलिस अपने बल का प्रयोग कर किसानों का धरना समाप्त कराना चाहती है, जिसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा किसानों की आवाज दबाने की कोशिश की जा रही है। इसलिए शुक्रवार को वह बड़ी संख्या में किसानों के साथ गाजीपुर के लिए ट्रक आदि वाहनों के जरिये रवाना हो गए। शनिवार तड़के सुबह भी भाकियू से जुड़े तमाम पदाधिकारी गाजीपुर कूच करेंगे।

हिंसा: लाल किले की कई ऐतिहासिक वस्तुएं गायब

हिंसा की वजह से लाल किले की कई ऐतिहासिक वस्तुएं गायब, इमारत को पहुंची अपूर्णीय क्षति
अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस पर हिंसा और उपद्रव की घटना के बाद लाल किले की ऐतिहासिक इमारत को अपूरणीय क्षति पहुंची है। ये बात केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने कही है। उन्होंने रिपोर्टर्स से बातचीत के दौरान बताया कि तिरंगा फहराने की जगह के करीब स्थापित किए गए 2 ऐतिहासिक पीतल के कलश गायब हैं। किले का मुख्य दरवाजा भी क्षतिग्रस्त हुआ है। पटेल ने कहा क्षतिग्रस्त हुई कलाकृतियां बेहद अमूल्य थीं। कितना भी पैसा खर्चकर इनकी भरपाई मुमकिन नहीं। हालांकि सरकार 26 जनवरी के दौरान हुई झड़प में 17वीं शताब्दी की इस इमारत को हुए आर्थिक नुकसान का लेखाजोखा तैयार कर रही है। हिंदुस्तान टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक-अधिकारियों ने बताया कि लाल किले को प्रदर्शनकारियों ने बेहद नुकसान पहुंचाया है। किले की गुंबद के ऊपरी हिस्से पर मौजूद कम से कम 3 बेशकीमती कलश गायब हैं। टिकट काउंटर में तोड़ फोड़ हुई टॉयलेट, एअर कंडीशनर को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। किले के महत्व को बताने के लिए जगह-जगह लगी शिलाओं को उखाड़ फेंका गया। स्टाफ रूम्स में तोड़-फोड़ हुई। सीढ़ियां और रेलिंग तोड़ी गईं। सीसीटीवी कैमरे को तोड़ा गया। अधिकारियों के मुताबिक प्रदर्शन के दौरान हुई तोड़फोड़ को ठीक करने में महीनों लगेंगे किले के बाहर लाइट, किले का मुख्य दरवाजा समेत कई कीमती चीजों के साथ तोड़फोड़ हुई संस्कृति मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल ने बताया कि 72वीं रिपब्लिक परेड प्रदर्शनी को भी प्रदर्शनकारियों ने क्षतिग्रस्त कर दिया इसे सैलानियों के लिए किले में रखा जाना था। पटेल ने बताया रिपोर्ट पुलिस को सौंपी जा चुकी है। आर्कियोलोजिकल सर्वे ऑफ इंडिया ने पुलिस से संपर्क साधकर कहा है। कि ऐतिहासिक इमारत को क्षतिग्रस्त करने वालों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। एएसआइ ने पुलिस से तोड़फोड़ करने वालों पर द एनसियंट मोन्युमेंट ऐंड आर्कियोलोजिकल ऐंड आर्कियोलोजिकल साइट्स ऐंड रिमेंस एक्ट के तहत कार्रवाई करने की अपील की है।

थमता आंदोलन फिर हुआ तेज, टिकैत ने बदला सीन

थमता आंदोलन फिर हुआ तेज, टिकैत ने बदला सीन, जानिए दिल्ली आने-जाने के कौन से रास्ते बंद और खुले।
नई दिल्ली। ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा के बाद किसान आंदोलन काफी हद तक बिखर गया है। कई किसान संगठनों ने आंदोलन की राह छोड़ दी है। और इसी को देखते हुए माना जा रहा था। कि जल्द ही किसान आंदोलन पूरी तरह से ख़त्म हो जायेगा| वहीं बीते वीरवार को दिल्ली-यूपी की सीमा गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे आंदोलन को हटाने की कवायद की गई मगर कुछ हो न सका। दरअसल, गाजीपुर बॉर्डर पर से कई किसान संगठन और उनके समर्थन में उतरे किसान आंदोलन खत्म करके के जा चुके हैं। जिसके बाद बचे हुए आंदोलनकारियों को यहां से हटने को कहा गया था ताकि गाजीपुर बॉर्डर पूरी तरह से साफ़ हो जाये और यहाँ पर आना-जाना सुचारु रूप से शुरू हो सके। लेकिन यहाँ पर जमकर बैठे किसान नेता राकेश टिकैत ने पूरा सीन बदल दिया। राकेश टिकैत रोते हुए नजर आये और उन्होने तरह-तरह की भावनात्मक बातें की जिससे खाली हो रहे गाजीपुर बॉर्डर पर एक बार फिर भीड़ उमड़ पड़ी। राकेश टिकैत का कहना है। कि वह आंदोलन तबतक ख़त्म नहीं करेंगे जबतक मसला सुलझ नहीं जाता। चाहें जो भी जो जाए वह धरना देते रहेंगे और इस मुद्दे पर सरकार से बातचीत करेंगे| वह हार मानने वाले नहीं। इधर, आंदोलन को देखते हुए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने कुछ रास्ते बंद कर दिए हैं। ट्रैफिक को और रास्तों पर डायवर्ट किया गया है।दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने बताया
एनएच-24,गाजीपुर बॉर्डर आने और जाने वाले मार्ग को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा सिंघु, औचंडी, मंगेश, सबोली, पियू मनियारी बॉर्डर बंद है। लामपुर, सफियाबाद, सिंघु स्कूल और पल्ला टोल टैक्स बॉर्डर खुल गई। नरेला के पास एनएच44 से ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है। दिल्ली पुलिस ने कहा है। कि लोग बाहरी रिंग रोड,जीटीक सड़क और एनएच 44 से बचें।

गाजियाबाद बॉर्डर से रवाना हुए, दिल्ली में किसान

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। आंदोलन को लेकर एक बार फिर से किसानों में भारी जोश देखने को मिला। उकलाना गांव के भैरी अकबरपुर गांव बॉथम, पाबड़ा, किनाला सहित अनेक गांव से किसान कल रात्रि और आज सुबह गाजीपुर बॉर्डर के लिए रवाना हो गए। गांव भैरी अकबरपुर में सैकड़ों की संख्या में किसान बाबा रामदेव मंदिर में इकट्ठे हुए और पहले सरकार और मोदी के खिलाफ जमकर मुर्दाबाद के नारे लगाए। उसके बाद उन्होंने एक मीटिंग बुलाई है। जिसमें फैसला लिया कि किसान राकेश टिकैत के समर्थन में इस बार टिकरी व सिंघु नही बल्कि गाजीपुर बॉर्डर पहुंचेंगे। किसानों ने साफ कहा कि सरकार उनके आंदोलन को कमजोर आंकने की भूल ना करे।

यूपी: महापंचायत के लिए मंच की तैयारियां शुरू

मुजफ्फरनगर। महापंचायत के लिए मंच की तैयारियां शुरू। मौके पर भारी पुलिस बल तैनात, प्रदर्शन से ताकत दिखाएंगे भाकियू प्रमुख नरेश टिकैत मुजफ्फरनगर के राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान में होगी महापंचायत नरेश टिकैत बोले, किसानों के लिए हम कुर्बान हो जाएंगे। अब धरना नहीं उठेगा, वहां से कई लाशें उठेंगी नरेश टिकैत उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद में आज होने वाली भारतीय किसान यूनियन की महापंचायत के लिए जीआईसी के मैदान में तैयारियां शुरू हो गई है। मैदान में सुबह ही भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। बता दें कि प्रशासन और भारतीय किसान यूनियन के बीच संभावित टकराव टल गया है। प्रशासन ने किसान पंचायत की इजाजत दे दी है। वहीं सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। यातायात सुचारू रहे इसके लिए रूट में फेरबदल किया गया है।एसएसपी अभिषेक यादव ने बताया कि महापंचायत के दौरान शहर के महावीर चौक से सर्कुलर रोड होते हुए सुजडू चुंगी तक का मार्ग पूरी तरह बंद रहेगा। मेरठ की ओर से आने वाले सभी वाहन हाईवे से होते हुए वाया भोपा बाईपास से शहर में प्रवेश करेंगे। वहीं, शामली और बड़ौत की ओर से आने वाले सभी वाहन भी पीनना-वहलना बाईपास होते हुए हाईवे और वहां से भोपा बाईपास होकर शहर में प्रवेश करेंगे। यहीं से होकर जाएंगे। किसी भी वाहन को वहलना चौक से सुजडू चुंगी होते हुए सर्कुलर रोड से होकर शहर में घुसने की इजाजत नहीं होगी। किसानों के सभी वाहनों के लिए यहीं मार्ग आरक्षित किया गया है। महापंचायत में पहुंचने वाले सभी किसानों व अन्य लोगों के वाहन वहलना चौक से सुजडू चुंगी और वहां से सर्कुलर रोड होते हुए महावीर चौक स्थित महापंचायत स्थल पर पहुंचेंगे और वहीं पर पार्क होंगे सहारनपुर के नागल क्षेत्र से भी भाकियू कार्यकर्ता मुजफ्फरनगर के लिए रवाना हो गए हैं। वहीं सहारनपुर-मुजफ्फरनगर हाईवे पर देवबंद कोतवाली क्षेत्र में बॉर्डर पर स्थित घलोली चेक पोस्ट पर पुलिसकर्मी तैनात है। उधर, सरधना, जानी, सरूरपुर थाना क्षेत्रों के अलग-अलग गांवों से किसान ट्रैक्टर से गाजीपुर बॉर्डर पर पहुंचने की तैयारी में हैं। गंग नहर पटरी मार्ग पर अलग-अलग स्थानों पर पुलिस की ड्यूटी लगाई गई है। लेकिन यह निर्देश दिए गए हैं। कि किसानों के जाते हुए वीडियोग्राफी कराई जाए और उन पर नजर रखी जाए। जिन गांवों में किसान एकत्र हो रहे हैं उन पर भी पुलिस व खुफिया विभाग नजर रखे हैं। भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने गुरुवार अपराह्न करीब तीन बजे सिसौली के किसान भवन पर किसानों की पंचायत बुलाई। पंचायत में किसान बिरादरी पर लगे हुए आरोप को नकारा गया।

संसद में बोले राष्ट्रपति कोविंद, जवानों का बलिदान

संसद में बोले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, एलएसी पर शांति भंग करने की कोशिश, जवानों ने दिया सर्वोच्च बलिदान
अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी और सख्त प्रोटोकॉल के बीच संसद का बजट सत्र शुरू हो गया। 20 जवानों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए गलवां घाटी में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी और सख्त प्रोटोकॉल के बीच संसद का बजट सत्र शुक्रवार से शुरू हो गया है। सत्र की शुरुआत करते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संयुक्त सत्र को संबोधित कर रहे हैं। वे अपने अभिभाषण में अगले वित्तीय वर्ष के लिए सरकार की योजना और नीतिगत दृष्टि पर प्रकाश डालेंगे। कांग्रेस सहित कई विपक्षी दलों ने इसका बहिष्कार करने का फैसला लिया है। सत्र की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी सांसदों से सदन की गरिमा को बनाए रखने और सहयोग करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि सरकार सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार है। मुझे आशा है। कि ये सत्र बेहतर होगा। रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता पर भी सरकार का जोर है। कुछ दिन पहले ही सरकार ने एचएएल को 83 स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस के निर्माण का ऑर्डर दिया है। जून 2020 में हमारे 20 जवानों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए गलवां घाटी में अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। हर देशवासी इन शहीदों का कृतज्ञ है। मेरी सरकार, देश के हितों की रक्षा के लिए पूरी तरह कटिबद्ध है। और सतर्क भी है। आयुष्मान भारत- सेहत योजना लागू होने के बाद जम्मू कश्मीर के हर परिवार को 5 लाख रु तक के मुफ्त इलाज का लाभ मिलना तय हुआ है। केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद, कुछ महीने पहले लद्दाख स्वायत्त पर्वतीय विकास परिषद के चुनाव की प्रक्रिया भी सफलता-पूर्वक संपन्न हुई है। नक्सली हिंसा की घटनाओं में बड़ी कमी आई है। और नक्सल प्रभावित क्षेत्र का दायरा सिमट रहा है। मेरी सरकार की विकास नीति को जम्मू कश्मीर के लोगों ने भी भरपूर समर्थन दिया है। कुछ सप्ताह पहले ही, आजादी के बाद पहली बार, जम्मू कश्मीर में जिला परिषद के चुनाव सफलता के साथ संपन्न हुए हैं। ब्रू शरणार्थियों के पुनर्वास को शांति और सौहार्द के साथ पूरा किया जा रहा है। इसी प्रकार ऐतिहासिक बोडो शांति समझौता भी हुआ है। जिसे सफलतापूर्वक लागू किया गया है। समझौता होने के बाद इस बार बोडो टैरीटोरियल काउंसिल के चुनाव भी सफलता के साथ पूरे हुए हैं।आज पूर्वोत्तर में उग्रवाद समाप्ति की ओर है। और हिंसा की घटनाओं में बड़ी कमी आई है। हिंसा के रास्ते पर भटके युवा अब विकास और राष्ट्र-निर्माण की मुख्यधारा में लौट रहे हैं। इसका लाभ पूर्वोत्तर के किसानों, युवाओं और उद्यमियों, सभी को होगा। अर्थ ब्रह्मपुत्र’ प्रोग्राम से ‘इंटीग्रेटेड नेशनल वाटरवेज’ का विकास कर, ब्रह्मपुत्र और बराक नदी को विकास की धारा बनाने का प्रयास जारी है। ब्रह्मपुत्र नदी असम सहित उत्तर-पूर्वी राज्यों की ‘जीबोनधारा’ है। इसी जीवनधारा को आर्थिक-गतिविधियों का आधार बनाकर विभिन्न राष्ट्रीय जलमार्गों के आरंभ के लिए काम हो रहा है। देश को गैस बेस्ड इकोनॉमी बनाने के लिए गैस कनेक्टिविटी पर भी तेज गति से काम किया जा रहा है। कुछ दिनों पहले ही कोच्चि-मैंगलुरू गैस पाइपलाइन का लोकार्पण किया गया है। डोभी-दुर्गापुर गैस पाइपलाइन का निर्माण ‘ऊर्जा गंगा’ का प्रवाह बढ़ा रहा है। दुनिया की सबसे ऊंची सरदार पटेल की प्रतिमा का गौरव अपने साथ रखने वाले केवड़िया से अब देश के अनेक शहरों से सीधे ट्रेनें भी चलने लगी हैं। गुजरात के हजीरा और घोघा के बीच शुरू की गई रो-पैक्स फेरी सेवा हो या फिर केवड़िया और साबरमती रिवर फ्रंट के बीच सी-प्लेन सेवा, ये भारत में वॉटर ट्रांसपोर्ट को नया आयाम दे रहे हैं। कुछ दिन पहले ही पूर्वी और पश्चिमी डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर के सेक्शंस, देश को समर्पित किए गए हैं। ये फ्रेट कॉरिडोर पूर्वी भारत में औद्योगीकरण को प्रोत्साहन देने के साथ ही रेल यात्रा में होने वाली अनावश्यक देरी को भी कम करेंगे। चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर तक सबमरीन ऑप्टिकल फाइबर केबल हो अटल टनल हो या फिर चार धाम सड़क परियोजना हमारा देश विकास के कार्यों को आगे बढ़ाता रहा। कोरोना के इस काल में प्रत्येक भारतीय का जीवन बचाने के प्रयासों के बीच अर्थव्यवस्था को जो हानि हुई थी। उससे भी अब देश उबरने लगा है। इस मुश्किल समय में भी भारत दुनिया के निवेशकों के लिए आकर्षक स्थान बनकर उभरा है। मैन्युफेक्चरिंग से जुड़े 10 सेक्टर्स के लिए पहली बार देश में लगभग डेढ़ लाख करोड़ रुपए की प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम लागू की गई है। इसका लाभ इलेक्ट्रॉनिक्स सहित अनेक दूसरे सामान की मैन्युफेक्चरिंग में दिखने भी लगा है। फेसलेस टैक्स असेसमेंट और अपील की सुविधा देने के साथ ही मेरी सरकार ने देश में उद्यमशीलता को प्रोत्साहित करने के लिए कंपनी अधिनियम के अनेक प्रावधानों को गैर-आपराधिक बना दिया है।

किसान आंदोलन के खिलाफ लोगों का हंगामा

किसान आंदोलन के खिलाफ स्थानीय लोगों का हंगामा-टेंट उखाड़े, किसान नेता पर भड़काने का आरोप, एसएचओ पर तलवार से हमला

नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के मौके पर ट्रैक्‍टर मार्च के दौरान हुई हिंसा के बावजूद कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करने वाले किसान सिंघू बॉर्डर पर डटे हैं। किसानों के प्रदर्शन स्‍थल पर शुक्रवार को एक बार फिर से हंगामा हो गया। खुद को स्‍थानीयवासी बताने वाले लोगों का हुजूम वहां पहुंचा और धरना समाप्‍त कर रास्‍ता खोलने की मांग करने लगे। इन लोगों ने सिंघू बॉर्डर खाली करो भारत माता की जय तिरंगे का अपमान नही सहेंगे' के नारे लगाने लगे उन्होंने किसानों के टेंट को उखाड़ दिया है। इससे वहां के हालात इतने बिगड़ गए कि पुलिस को अनियंत्रित भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आंसू गैस के गोले तक दागने पड़े जानकारी के मुताबिक, इस अफरातफरी के बीच प्रदर्शनकारी की तलवार से बचाव में अलीपुर के एसएचओ प्रदीप पालीवाल घायल हो गए, उनका हाथ कट गया है। और एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल भी हो गया है। सिंघू सीमा पर पुलिस ने कथित तौर पर स्थानीय होने का दावा करने वालों और किसानों पर बल प्रयोग किया। स्थानीय होने का दावा करने वाले लोग विरोध स्थल खाली करने के लिए प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान किसानों से उनकी झड़प हो गई। एसएचऔ प्रदीप पालीवाल ने कहा कि वहाँ एक व्यक्ति तलवार से हमला करने को आगे बढ़ा जिसको बचाव के लिए आगे बढ़ा और वह मेरे हाथ पर जा लगा उन्होंने कहा मैंने देखा कि कुछ किसान नेता उनको भड़का रहे थे। इसमें उन्होंने पाल सिंह का नाम भी लिया। बताया जा रहा है। की सिंघू सीमा पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों को वहां से हटाने के लिए बवाना और नरेला से कथित तौर पर स्थानीय लोग पहुंचे थे। उन्होंने किसानों पर पत्थरबाजी की और गालियां दी। कुछ किसानों ने लाठियां भी मारी काफी समय तक पुलिस ने कथित स्थानीयों को समझाया और फिर लाठी चार्ज किया।

किसानों के नाम पर प्रदर्शन, उपद्रवियों पर सख्ती

मोहसिन रजा का बयान- किसानों के नाम पर प्रदर्शन कर रहे उपद्रवियों पर होगी सख्ती, विपक्ष सेंक रहा रोटी-कर रहा ड्रामा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार में अल्पसंख्यक कल्याण एवं मुस्लिम वक्फ और हज राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने किसान आंदोलन को लेकर शुक्रवार को बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में किसानों के नाम पर यूपी बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे लोगों में उपद्रवियों पर सख्ती की जाएगी। इसके साथ ही मोहसिन रजा ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती पर भी हमला बोला उन्होंने कहा कि ये मुद्दाविहीन पार्टियां हैं। आंदोलन को भड़काती हैं। इनके पास कोई मुद्दा नहीं बचा है। मोहसिन रजा ने इसके अलावा दिल्ली की आम आदमी पार्टी के लिए कहा कि ये वही लोग हैं। जिन्होंने कोरोना काल में दिल्ली से हमारे किसानों और मजदूरों भाइयों को बाहर फेंक दिया था। अब ड्रामा कर रहे हैं। ये लोग ड्रामा करने वाले लोग हैं। मोहसिन रजा ने कहा कि जिन लोगों ने किसानों के धरने को हाईजैक किया है। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी यह लाल किले से लेकर हर जगह उपद्रव कर रहे हैं। ऐसे लोगों को सरकार चिन्हित करेगी।

यूपी में जिला जज ने लगाई फांसी, हुई मौत

युप में जिला जज ने फांसी लगाकर दी जान, लटका मिला शव
अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। दिल्‍ली से सटे उत्‍तर प्रदेश के महत्‍वपूर्ण शहर गाजियाबाद के जिला एवं सत्र न्‍यायाधीश योगेश कुमार का शव उनके आवास में फांसी पर लटका मिला है। पुलिस इसे आत्‍महत्‍या का मामला बता रही है। जज योगेश कुमार अपर जिला एवं सत्र न्‍यायालय के कोर्ट संख्‍या-9 में तैनात थे। जानकारी के अनुसार, उनका आवास शहर के सिहानी थाना गेट में है। और यहीं पर उनका शव पाया गया है। जानकारी के अनुसार मूल रूप से मेरठ निवासी योगेश कुमार गाजियाबाद के कोर्ट संख्‍या 9 में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश के रूप  में तैनात थे। वे सिहानी गेट थाना इलाके के नेहरू नगर में स्थित सरकारी आवास में रहते थे। योगेश कुमार की 17 मार्च 2020 को गाजियाबाद जिला अदालत में नियुक्ति हुई थी। उनकी यहां पहली पोस्टिंग थी।

किसान आंदोलन में राजनीतिक गतिविधि भी तेज

किसान आंदोलन में राजनीतिक गतिविधि भी तेज, एसपी, बीएसएफ, आप कांग्रेस सभी आए आगे

नई दिल्ली। कृषि बिल के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन को लेकर राजनीतिक दलों का सियासत भी तेज है। दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर बवाल के बाद शुरू हुई कार्रवाई को लेकर तमाम विपक्षी दलों ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने किसान नेता राकेश टिकैत को फोन कर उनका हालचाल जाना है। बातचीत में राकेश टिकैत ने अखिलेश यादव को सेहत का हाल बताया है। फोन पर बात करने के बाद अखिलेश यादव ने ट्वीट कर बताया कि अभी राकेश टिकैत जी से बात करके उनके स्वास्थ्य का हाल जाना भाजपा सरकार ने किसान नेताओं को जिस तरह आरोपित व प्रताड़ित किया है। वो पूरा देश देख रहा है। आज तो भाजपा के समर्थक भी शर्म से सिर झुकाए और मुंह छिपाए फिर रहे हैं। आज देश की भावना और सहानुभूति किसानों के साथ है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी ऐलान किया है। कि किसानों के समर्थन में आज संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण का उनकी पार्टी बहिष्कार करेगी मायावती ने कहा कि गणतंत्र दिवस पर दंगे की आड़ में निर्दोष किसान नेताओं का बलि का बकरा न बनाया जाए। वहीं आज दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया गाजीपुर बॉर्डर पहुंचे और किसान नेता राकेश टिकैत से मुलाकात की साथ ही दिल्ली सरकार की ओर से की गई पानी की व्यवस्था का जायजा लिया। सिसोदिया ने इस दौरान कहा कि मुझे सीएम अरविंद केजरीवाल ने भेजा है। कल रात आपकी बात हुई थी। तो पानी की सप्लाई की गई। डिप्टी सीएम सिसोदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा है। और कोई ज़रूरत हो तो हम तैयार हैं। उन्होंने कहा कि पेट इंटरनेट से नहीं, रोटी से भरता है।आज कुछ पूंजीपतियों के दबाव में किसान को गद्दार कहा जा रहा है। जिस सरदार को कट्टर देशभक्त माना जाता है उसको गद्दार कहा जा रहा है। संसद परिसर में किसानों को लेकर अकाली दल के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने कहा, यह आंदोलन पूरे देश का आंदोलन है। देश के किसानों की आवाज है। जिसको सरकार कुचलना चाहती है। देश की जनता इसको बर्दाश्त नहीं करेगी। कोर्ट ने कहा था। ये उनका अधिकार है- बैठने का।

जांच आयोग का कार्यालय फिर 6 माह के लिए बढ़ा

हैदराबाद एनकाउंटर मामले का जांच आयोग का कार्यकाल फिर 6 माह के लिए बढ़ा
हैदराबाद। सुप्रीम कोर्ट ने हैदराबाद मुठभेड़ मामले की जांच कर रहे न्यायमूर्ति वीएस सिरपुरकर की अध्यक्षता वाले आयोग का कार्यकाल 6 महीने के लिए और बढ़ाया। यह जांच आयोग हैदराबाद में एक पशु चिकित्सक के साथ गैंगरेप और हत्या के 4 आरोपियों की एक मुठभेड़ में मारे जाने की घटना की जांच कर रहा है। इससे पहले जुलाई में भी सुप्रीम कोर्ट ने यह कार्यकाल 6 महीने बढ़ाया था। एससी के रिटायर जस्टिस वीएस सिरपुरकर की जांच कमेटी ने जांच पूरा करने के लिए सुप्रीम कोर्ट से समय बढ़ाने की मांग की थी। उन्होंने इसके लिए कोरोना के दौरान आई दिक्कत का हवाला दिया था। प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने आयोग के आवेदन पर सुनवाई करते हुए उसका कार्यकाल बढ़ाने के बारे में आदेश पारित किया। न्यायालय ने 12 दिसंबर 2019 को शीर्ष अदालत के पूर्व न्यायाधीश वीएस सिरपुकर की अध्यक्षता में 3 सदस्यीय आयोग गठित किया था। आयोग को 6 महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट न्यायालय को सौंपनी थी।आयोग का कहना है। कि कोरोना संकट के चलते हैदराबाद एनकाउंटर मामले की जांच तय समय में पूरी नहीं हो पाई है।

पोलैंड सरकार ने देश में गर्भपात पर लगाया बैन

पोलैंड सरकार ने देश में गर्भपात पर लगाया बैन, महिलाओं का विरोध प्रदर्शन

वारसॉ। पोलैंड की सरकार ने गर्भपात पर लगभग पूरी तरह से बैन लगा दिया है। इसको लेकर देश में महिलाओं में काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है। पोलैंड में भ्रूण में किसी भी तरह की दिक्कत आने पर कानूनी तौर पर महिलाएं गर्भपात करा सकती थीं। हालांकि, नए नियम के अनुसार गर्भपात पर अब लगभग पूरी तरह से बैन लगा दिया गया है। पिछले साल 22 अक्टूबर को वहां की एक कोर्ट ने ये आदेश जारी किया था जिसे पोलैंड की सरकार ने अब लागू किया है। गर्भपात को गैरकानूनी बताते वाले कोर्ट के आदेश के खिलाफ महिलाएं पिछले साल से ही विरोध प्रदर्शन कर रही थीं। पोलैंड की राजधानी वॉरसॉ और अन्य शहरों में महिलाओं के अधिकार की मांग के लिए और इस कानून के विरोध के लिए महिलाएं, और संगठन सड़कों पर उतर आए हैं। पोलैंड की कुछ महिलाओं का कहना है, कि अगर भ्रूण में कोई दिक्कत होने पर वो गर्भपात नहीं कर सकतीं तो फिर वो बच्चे पैदा करने की कोशिश भी नहीं करेंगी।

2 दिनों की यात्रा पर बंगाल पहुंचेंगे गृहमंत्री शाह

आज रात 2 दिनों की यात्रा पर बंगाल पहुंचेंगे अमित शाह, बीजेपी में शामिल हो सकते हैं कई नेता

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में इस साल चुनाव है। इसको लेकर काफी गहमागहमी भी है। इसी के मद्देनजर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह राज्य के 2 दिवसीय दौरे पर शुक्रवार रात कोलकाता पहुंच रहे हैं।अमित शाह के इस हाई-प्रोफाइल बंगाल दौरे के दौरान प्रदेश की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और अन्य दलों से कई नेता भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं। जानकरी के मुताबिक नेताजी सुभाष चंद्र बोस इंटरनेशनल हवाई अड्डे पर अमित शाह लगभग 11 बजे पहुंचेंगे। शाह की बंगाल की पिछली यात्रा के दौरान, तृणमूल कांग्रेस नेता और पूर्व राज्य परिवहन मंत्री सुवेंदु अधिकारी 19 दिसंबर को भाजपा में शामिल हो गए थे। शाह कलनादिया जिले के मायापुर में इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शसनेस का दौरा करने वाले हैं। वह उत्तर 24-परगना के ठाकुरनगर क्षेत्र में एक रैली को भी संबोधित करेंगे। यहां मतुआ समुदाय का वर्चस्व है। 31 जनवरी को शाह कोलकाता में भारत सेवाश्रम संघ का दौरा करेंगे और हावड़ा जिले के डुमुरजला स्टेडियम में रैली करेंगे जहां कई नेताओं के भाजपा में शामिल होने की उम्मीद है।

ट्रेक्टर मालिक किसानों से एचसी ने मांगा जवाब

ट्रैक्टर मालिक किसानों से 10 लाख तक के पसर्नल बॉन्ड व जमानत मांगने पर याचिका दाखिल, एचसी ने मांगा जवाब
बृजेश केसरवानी   
प्रयागराज। इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने ट्रैक्टर मालिक किसानों से भारी राशि के पर्सनल बॉन्ड और जमानतें मांगने के मामले में डीएम, सीतापुर से जवाब तलब किया है। दरअसल सीतापुर के डीएम ने जिले के ट्रैक्टर मालिक किसानों को नोटिस भेजा था। सीआरपीसी की धारा-111 के तहत ये नोटिस भेजा गया था। इसमें कानून व्यवस्था पर संकट की आशंका के चलते नोटिस देने की बात कही गई थी। नोटिस में ट्रैक्टर मालिक किसानों से 50 हज़ार से लेकर 10 लाख तक के पर्सनल बॉन्ड और इतनी ही रक़म की दो जमानतें मांगी गई थीं। डीएम सीतापुर के इस आदेश पर जनहित याचिका हाईकोर्ट में दाखिल हुई है। मामले की अगली सुनवाई 2 फरवरी को होगी। जिलाधिकारी से निर्देश प्राप्त कर कोर्ट को अवगत कराने का आदेश अपर महाधिवक्ता को हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति रमेश सिन्हा और न्यायमूर्ति राजीव सिंह की खंडपीठ ने अरुन्धति धुरू की ओर से दाखिल जनहित याचिका पर दिया है।

ए छोरियों हट जाओ, क्या ट्रैक्टर के नीचे आना है ?

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी के मंडावली थाने में तैनात इंस्पेक्टर (एटीओ) पुष्पलता ने किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भारतीय किसान यूनियन (अराजनैतिक) के प्रवक्ता राकेश टिकैत पर भीड़ को उकसाने का आरोप लगाया है। महिला इंस्पेक्टर का आरोप है कि टिकैत जुबान से कुछ और इशारों में कुछ और कह रहे थे। उनका इरादा किसानों को तय रूट पर न भेजकर दिल्ली की ओर भेजना था। पुष्पलता और उनके साथ मौजूद महिला एसआई सुमन कुशवाहा जब बैरिकेड तोड़ रहे ट्रैक्टरों पर लटककर उसको रोकने की कोशिश कर रही थीं तो टिकैत ने देसी अंदाज में कहा, “ए छोरियों हट जाओ, क्या ट्रैक्टर के नीचे आना है। पुष्पलता ने बताया कि किसानों की भीड़ के आगे फोर्स कम थी। किसान जबरन बैरिकेडिंग तोड़कर दिल्ली की ओर निकल गए। इंस्पेक्टर पुष्पलता ने बताया कि वह मूलरूप से गांव चांदतारा, खरखौदा, मेरठ की रहने वाली हैं। 26 जनवरी को उनकी ड्यूटी गाजीपुर अंडरपास पर थी। ट्रैक्टर रैली को यहीं से मुड़कर आनंद विहार की ओर जाना था। सुरक्षा बलों को वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया था कि रैली दोपहर 12 बजे शुरू होगी, लेकिन 9.30 बजे से ही किसानों ने अपनी रैली शुरू कर दी। इस बीच कुछ किसानों ने बैरिकेडिंग तोड़कर एनएच-24 की सर्विस लेन से दिल्ली की ओर कूच करने का प्रयास किया तो वह एसआई सुमन के साथ ट्रैक्टर के आगे आ गईं। उस समय राकेश टिकैत भी वहां मौजूद थे। पुष्पलता के मुताबिक टिकैत ने किसानों को रोकने का बिल्कुल भी प्रयास नहीं कहा...। किसान बैरिकेड तोड़ रहे थे तो वह दिखावे के लिए उनको आनंद विहार की ओर जाने के लिए कह रहे थे। पुष्पलता के मुताबिक जिस ट्रैक्टर पर वह लटकी थीं। उस ट्रैक्टर चालक ने रेस देकर उनको डराने का प्रयास किया। लेकिन वह बिल्कुल भी नहीं डरीं। आखिर में उस ट्रैक्टर वाले को आनंद विहार की ओर ही जाना पड़ा।

मामला, समाजसेवी की शिकायत पर दर्ज कराया

विजय भाटी   

गौतम बुद्ध नगर। दिल्ली में 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के सिलसिले में नोएडा पुलिस ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर एवं छह पत्रकारों समेत आठ लोगों के खिलाफ राजद्रोह एवं अन्य आरोपों में मामला दर्ज किया है। नोएडा के सेक्टर 20 थाने में यह मामला एक समाजसेवी की शिकायत पर दर्ज कराया गया है। शिकायत में आरोप लगाया गया है कि इन लोगों ने 26 जनवरी को दिल्ली में हिंसक किसान प्रदर्शन से संबंधित अपुष्ट खबरें चलाईं तथा ट्वीट किए। पुलिस उपायुक्त (जोन प्रथम) राजेश एस ने बताया कि अर्पित मिश्रा नामक समाजसेवी ने थाना सेक्टर 20 में रिपोर्ट दर्ज कराई है। उन्होंने कहा कि प्राथमिकी में राजदीप सरदेसाई, मृणाल पांडे, जफर आगा, परेशनाथ, अनंतनाथ तथा विनोद के जोस सहित आठ लोगों के नाम लिए गए हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया कि प्राथमिकी में भादंसं के अलावा सूचना प्रौद्योगिकी कानून की विभिन्न धाराओं के तहत आरोप लगाए गए हैं। नोएडा पुलिस मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच कर रही है।

सैंध: उपद्रवियों का आंदोलन में घुसने का प्रयास

राणा ओबराय     
नई दिल्ली। किसान आंदोलन के दाैरान शुक्रवार को 
हिंसक हो गया। जब स्थानीय लोगों और किसान संगठनों के सदस्यों के बीच झड़प हो गई। दोपहर करीब 1 बजे नरेला की तरफ से आए लोग धरनास्थल पर पहुंचे और नारेबाजी करते हुए किसानों से बॉर्डर खाली करने की मांग करने लगे। इनका कहना था कि किसान आंदोलन के चलते लोगों के कारोबार ठप हो रहे हैं। करीब 1.45 बजे ये लोग किसानों के टेंट तक पहुंच गए और उनकी जरूरत के सामान तोड़ दिए। इसके बाद किसानों और लोगों के बीच झड़प शुरू हो गई। दोनों ओर से पथराव भी हुआ। पुलिस ने बीच-बचाव की कोशिश की। लेकिन स्थिति बिगड़ते देख लाठीचार्ज कर दिया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े। इस झड़प में कई लोगों को चोटें आई हैं। कुछ पुलिसकर्मियों को भी गंभीर चोटें लगी हैं। अलीपुर थाने के एसएचओ पर तलवार से भी हमला हुआ है। इस अफरातफरी के बीच प्रदर्शनकारी की तलवार से अलीगढ़ के एसएचओ प्रदीप पालीवाल घायल हो गए। सिंघू सीमा पर पुलिस ने कथित तौर पर स्थानीय होने का दावा करने वालों और किसानों पर बल प्रयोग किया। स्थानीय होने का दावा करने वाले लोग विरोध स्थल खाली करने के लिए प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान किसानों से उनकी झड़प हो गई। प्रदर्शनस्थल पर अराजक तत्वों ने एक पंडाल से लेकर वाशिंग मशीन तक तोड़ दिया। हालांकि सवाल अब ये उठ रहे हैं कि जहां दिल्ली जलबोर्ड के टैंकर भी नहीं जा पा रहे। वहां स्थानी प्रदर्शनकारी कैसे पहुंचे। अपने गंतव्य तक पहुंचने के लिए कई किलोमीटर की दूरी तय करनी पड़ती है। शुक्रवार दोपहर सिंघु बॉर्डर पर कई गांवों के किसानों ने प्रदर्शन कर मांग की कि किसान यहां से जाएं। उन्होंने कहा कि किसानों के इस तरह से 2 महीने से भी अधिक समय से प्रदर्शन करने के चलते न केवल कारोबार प्रभावित हुआ है, बल्कि सैकड़ों लोग बेरोजगार तक हो चुके हैं।

नंगा-नाच से सारा किसान वर्ग दोषी नही हो जाता

राणा ओबराय    
चंडीगढ। जो किसान आंधी, तूफान और अंधेरी रातों को चीरते हुए धरती से अन्न पैदा करता है। वह किसान कभी खोफ के साये तले नही रह सकता। देश का इतिहास रहा है, जब-जब देश पर मुसीबत आती है। तब-तब किसान और जवान देश की रक्षा के लिए आगे आतेें है। ज्यादा समय हो गया है। किसान अपनी मांगों को मनवाने के हाड़तोड़ ठंड में शांतिपूर्ण तरीके से धरने पर बैठा है। यदि किसानों के रूप में अराजक तत्व आंदोलन में शामिल होकर गणतन्त्र दिवस के अवसर पर नँगा नाच करते हैं, तो उससे सारा किसान वर्ग दोषी नही हो जाता है। जिस तरह से दिल्ली प्रशासन ने संघर्षरत किसानों के धरना स्थल की बिजली पानी काट दिया और पुलिस के भारी बंदोबस्त से किसानों पर दबाव बना कर राकेश टिकैत को गिरफ्तार की योजना बनाई थी। उस योजना को राकेश टिकैत के बहे आंसुओं ने देश के किसानों की अंतरात्मा को चीर के रख दिया। यूपी हरियाणा पंजाब के किसानों ने रात को ही दिल्ली की तरफ वापसी कूच कर दिया। हरियाणा के कंडेला और अम्बाला क्षेत्र के किसानों ने राकेश टिकैत के नारे लगा कर कहा हम तुम्हारे साथ है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार गणतन्त्र दिवस के मौके पर लालकिले के उपर उपद्रवियों द्वारा झंडा लहराने से जिस किसान आंदोलन को सरकार लगभग खत्म होना मान रही थी। उस आंदोलन को राकेश टिकैत की आंखों से निकले आंसुओ और उसकी अंतरात्मा की आवाज से रातोरात आंदोलन ने फिर से गति पकड़कर किसानों को एकजुट कर दिया।

एटा: युवाओं ने निकाली जनाक्रोश बाइक रैली

पंकज कुमार   
एटा। जनपद से जहां एटा रेल विस्तार न होने से गुस्साए युवाओं ने मेधा व्रत शास्त्री की अगुवाई में एक बड़ी बाइक जन आक्रोश रैली का आयोजन किया। इस रैली में बहुतायत में बाइक के साथ पहुंचे और भाग लिया। वही मेधा व्रत शास्त्री ने बताया कि यह मेरी अकेली या किसी एक व्यक्ति की लड़ाई नहीं है। एटा रेल विस्तार पूरे जनपद वासियों के लिए जरूरी है और इसी के लिए युवाओं द्वारा जन आक्रोश रैली का आयोजन किया गया है।

एटा: अवैध असलहा के साथ अभियुक्त गिरफ्तार

पंकज कुमार    
एटा। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एटा श्री सुनील कुमार सिंह के निर्देशन में थाना नयागांव पुलिस द्वारा थाना नयागांव क्षेत्र के ग्राम करनपुर में मारपीट हुई। फायरिंग व हत्या के प्रयास की घटना में वांछित चल रहे आरोपी युवक अनिकेत को घटना में प्रयुक्त अवैध असलहा कारतूस सहित गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की गयी है। श्री नन्ने पुत्र लालाराम निवासी ग्राम करनपुर थाना नयागांव एटा द्वारा थाना नयागांव पर इस आशय की सूचना दी गयी। वादी के ही गाँव के अनिकेत पुत्र जबर सिंह, धर्मवीर व भूरे पुत्रगण सोवरन सिंह आदि ने वादी के परिजनों व वादी की पत्नी के साथ पुरानी रंजिश को चलते गाली-गलौच, फायरिंग व लाठी डंडों से मारपीट की है, इस सूचना पर थाना नयागांव पर *मु0अ0सं0- 223/2020 धारा 323, 504, 506 व 307 भादंवि* अभियोग पंजीकृत किया गया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एटा द्वारा उक्त घटना में वांछित चल रहे अभियुक्तों की शीघ्र गिरफ्तारी हेतु थानाध्यक्ष नयागांव को निर्देशित किया गया। थाना नयागांव पुलिस द्वारा चेकिंग के दौरान मुखबिर की सूचना पर उक्त घटना में वांछित चल रहे अभियुक्त को करनपुर तिराहे के पास से समय करीब 06.15 बजे गिरफ्तार किया गया है। साथ ही अभियुक्त की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त एक अवैध तमंचा बरामद किया गया है। गिरफ्तार अभियुक्त के विरुद्ध थाना नयागांव पर मु.अ.सं- 10/21 धारा 3/25/27 आर्म्स एक्ट के तहत अभियोग पंजीकृत कर थानास्तर से आवश्यक वैधानिक कार्यवाही की जा रही हैं।

कौशाम्बी: ट्रैक्टर परेड कर किसानों ने किया आंदोलन

कौशाम्बी। केंद्र सरकार द्वारा किसानों पर जबरिया लगाए गए तीन किसान बिल को लेकर नाराज किसानों ने किसान यूनियन के नेतृत्व में चायल तहसील में धरना प्रदर्शन कर नेताओं ने सभा की है। सभा के माध्यम से किसानों ने कहा है कि वह केंद्र सरकार के गलत बिल को स्वीकार नहीं करेंगे केंद्र सरकार ने किसानों पर जो गलत बिल लगाया है। उस किसान बिल को केंद्र सरकार को वापस लेना होगा। वरना किसान आंदोलन कर केंद्र सरकार की नीव हिला देंगे। 26 जनवरी को किसान आंदोलन का कार्यक्रम आयोजित था।
धरना प्रदर्शन आंदोलन कर रहे किसानों में आक्रोश दिखाई पड़ रहा था। चायल तहसील में किसानों ने ट्रैक्टर परेड कर किसान विरोधी तीनों बिल वापसी की मांग रक्खी कार्यक्रम की। अध्यक्षता नुरुल इस्लाम जिलाध्यक्ष भारतीय किसान यूनियन ने की और धरना के संयोजक चायल तहसील अध्यक्ष चंदू तिवारी रहे। कार्यक्रम में इलाके के तमाम किसान उपस्थित रहे। किसान यूनियन के नेतृत्व में किसान धरना प्रदर्शन नारेबाजी करते हुए चायल तहसील पहुंचे और वहां पर एक सभा की सभा के बाद किसान यूनियन के नेताओं ने तहसीलदार और पिपरी कोतवाल की मौजूदगी में राष्ट्रपति के नाम संबोधित ज्ञापन यूनियन के नेताओं ने तहसीलदार को सौंपा।
अनुराग कुशवाहा 

नेपाली तस्कर को 10 साल कारावास की सजा

आदर्श श्रीवास्तव   

लखीमपुर खीरी। नेपाल से भारत में तस्करी कर चरस लाने के मामले में अपर जिला जज हरिप्रसाद ने नेपाली युवक को 10 साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही आरोपी पर एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। अभियोजन पक्ष रखते हुए अपर जिला शासकीय अधिवक्ता रमेश चंद्र मिश्रा ने बताया, भारतीय नेपाल सीमा के पिलर संख्या 200 के करीब 23 अगस्त 2014 को एसएसबी और पुलिस की एसएसपी आजाद नगर और पुलिस की संयुक्त टीम चेकिंग अभियान चला रहे थी। इसी दौरान एक मोटरसाइकिल से आते समय बसही बाजार के पास नेपाली युवक विशाल लामा तमांग को गिरफ्तार किया गया था। जिसके पास से सात किलो चरस के साथ एक नोकिया मोबाइल और 2160 की नेपाली मुद्रा और नेपाली पासपोर्ट के अलावा कई आपत्तिजनक वस्तुएं बरामद हुईं थीं।

हापुड़ः दुकान में घुसकर बदमाशों ने की दिनदहाड़े लूट

अतुल त्यागी   
हापुड़। दो बदमाशों ने एक पिन्नी व वारदाना व्यापारी की दुकान में घुसकर तंमचें के बल पर लूटपाट की। घटना का विरोध करनें पर व्यापारी को बट मारकर घायल कर फरार हो गए। दिनदहाड़े हुई घटना से व्यापारियों में आक्रोश व्याप्त हैं। जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के गढ़ रोड़ पर गौशाला के सामनें स्थित पिन्नी, प्लास्टिक व वारदाना व्यापारी कृष्ण कुमार अग्रवाल की दुकान पर दो बदमाश ग्राहक बनकर घुस आएं और माल देखनें के बहानें उन्हें दुकान की पहली मंजिल पर ले गए। जहां बदमाशों ने उन्हें हथियारों के बल पर कब्जें में लेकर लूटपाट की तथा व्यापारी के विरोध करनें पर बट मारकर घायल कर दिया और मौकें से फरार हो गए। घटना से व्यापारियों में हड़कंप मच गया। घटना से व्यापारियों में भारी आक्रोश व्याप्त हैं।

हापुड़ः तिरंगे का अपमान करने वालों का पुतला फूंका

अतुल त्यागी
हापुड़। शुक्रवार को राष्ट्रीय सैनिक संस्था जिला इकाई जनपद के तत्वावधान में दिल्ली में गणतंत्र दिवस के अवसर जिन्होंने राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किया था। उसके विरोध में राष्ट्रीय ध्वज का अपमान करने वालों का पुतला फूंका और सरकार से मांग कर उम्मीद करते हुए कि ऐसे असामाजिक तत्वों को चिंहित कर उनके विरुद्ध सख्त से सख्त कानूनी कार्यवाही कर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग की। ताकि भविष्य में कोई भी ऐसी निंदनीय घटना करने का प्रयास न कर सके महिला ब्रिगेड की पश्चिमी उत्तर प्रदेश की अध्यक्ष सुमन त्यागी ने कहा कि राष्ट्रीय सैनिक संस्था में उक्त घटना को लेकर काफी रोष है। जिला प्रवक्ता हाक्मीन अली मन्सूरी ने कहा कि जिन्होंने इस घटना को अंजाम दिया है। उन्हें फांसी की सजा होनी चाहिए। जिला अध्यक्ष ज्ञानेंद्र ने कहा कि राष्ट्रीय सैनिक संस्था किसानों की मुख्य मांग न्यूनतम समर्थन मूल्य की खरीद की गारंटी सुनिश्चितता को कानूनी जामा पहनाने के पक्ष में है और कहा कि जिन्होंने गणतंत्र दिवस के अवसर पर तिरंगे का अपमान किया था। उसमें तुरंत गोली मार देनी चाहिए थी। अगर कोई गोली मारने का विरोध करता तो उस पर भी देशद्रोह का मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए था। चाहे वो कि संगठन का हो और कहा कि ऐसी ओछी हरकत कभी किसान नहीं कर सकता। इस अवसर पर राष्ट्रीय सैनिक संस्था की महिला ब्रिगेड की जिला अध्यक्ष मोनिका त्यागी, जिला कोषाध्यक्ष पूनम उपाध्याय,  प्रशासनिक सदस्य संगीता चौधरी, मानवी सिंह, वरिष्ठजिलास्योंजक हरिराज सिंह, जिला उपाध्यक्ष मुकेश त्यागी, जिला कोषाध्यक्ष मुकेश प्रजापति, तहसील उपाध्यक्ष ताराचंद जाटव, नगर संगठन मंत्री संजीव मोटे, जिला संयोजक कपिल त्यागी व मोनू यादव मौजूद रहे।

आंदोलन: टिकैत के आंसुओं से उमड़ा जनसैलाब

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस 26 जनवरी को हुई हिंसा के बाद समाप्त होता नजर आ रहा किसान आंदोलन एक बार फिर से गरमा उठा है। राकेश टिकैत के आंसुओं से ऐसा सैलाब आया कि खत्म हो रहे आंदोलन में एक बार फिर से जान फूंक दी और सरकार को बैकफुट पर जाने को मजबूर कर दिया।दरअसल गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा के बाद सरकार ने फ्रंट फुट पर आकर आंदोलन को कुचलने की कवायद शुरु कर दी थी। जिसके तहत दिल्ली बॉर्डर में पानी और बिजली काट दी गई। कुछ जगहों पर बल का भी प्रयोग किया गया। लेकिन दिल्ली-यूपी के बॉर्डर पर राकेश टिकैत जमे हुए थे।

गुरुवार दोपहर को दिल्ली पुलिस ने राकेश टिकैत को नोटिस थमाकर बॉर्डर खाली करने के लिए कहा। देर रात रात तक पुलिस प्रशासन द्वारा राकेश टिकैत को समझाने का प्रयास किया गया। इस दौरान मीडिया से बात करते हुए टिकैत फूट-फूटकर रोने लगे और कहा कि सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है। आत्महत्या की धमकी देते हुए उन्होंने कहा कि अगर तीनों कानून वापस नहीं लिया गया तो वे आत्महत्या कर लेंगे। इसके साथ ही वे अनशन पर बैठ गए।राकेश टिकैत के इस कदम के बाद किसान फिर एकजुट हो गए। नरेश टिकैत ने भी आनन-फानन में मुजफ्फरपुर में किसानों की बैठक ली और ऐलान कर दिया। जिसके बाद यूपी हरियाणा से बड़ी संख्या में किसान ट्रैक्टर निकाल कर गाजीपुर बॉर्डर पहुंच गए। किसानों के रुख को देखते हुए प्रशासन बैकफुट पर आ गया और काटी गई लाइट फिर से चालू कर दी गई।

बिहार: 6 गिरफ्तार, सेक्स रैकेट का खुलासा किया

अविनाश श्रीवास्तव  
 नवादा। जिले में एक बार फिर सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ है जहां से पुलिस ने 4 लड़कियों और 2 लड़कों को आपत्तिजनक हालत में बरामद किया है। मामला जिले के मुफस्सिल थाने के अतौआ रोड का है जहां एक घर में सेक्स रैकेट का संचालन हो रहा था। बुधवार की देर रात्रि पुलिस ने छापेमारी कर दो युवकों के साथ चार महिलाओं को गिरफ्तार कर लिया है। मौके पर से शराब की खुली बोतलें और पीकर बची हुई शराब भी बरामद की गई है। बरामद की गई चार लड़कियों में से तीन ने खुद को पीड़ित बताया है और सेक्स रैकेट की संचालक गीता देवी पर बहला-फुसलाकर धंधा कराने का आरोप लगाया है।

लिहाजा उन्हें परिजनों को सौंपा जा रहा है जबकि रैकेट की संचालक गीता देवी तथा साथ में पकड़े गए केंदुआ निवासी सुबोध कुमार और सिंटू कुमार को जेल भेज दिया गया है। मुफस्सिल थाना के थानाध्यक्ष लाल बिहारी पासवान ने बताया कि अतउआ रोड स्थित एक घर में सेक्स रैकेट चलने की सूचना मिली थी। वरीय अधिकारियों के निर्देश पर बुधवार की देर रात घर की नाकेबंदी कर छापेमारी की गई तो इसका खुलासा हो गया ।

कई वर्षों से इस धंधे में लिप्त है आरोपी गीता, कई शहरों में चल रहा व्यापार
बताया जाता है कि पुलिस के हत्थे चढ़ी सेक्स रैकेट संचालक गीता देवी कई वर्षों से इस धंधे में लिप्त है और जिला सहित अन्य शहरों से लड़कियों को लाकर दे व्यापार कर आ रही थी। बताया जाता है कि गीता देशभर के मामले में ही पहले भी जेल जा चुकी है । और पुलिस ने उसे नवीनगर से गिरफ्तार किया था । वेल पर छूटने के बाद उसने फिर से गोरख धंधा शुरू कर दिया । पुलिस उससे पूछताछ कर रही है । पूछताछ के दौरान कई लोगों के नाम उजागर होने की संभावना है ।

हिसुआ, रजौली और वारसलीगंज में भी आ चुके हैं देह व्यापार के मामले
बता दें कि जिले में देह व्यापार के मामले रह-रहकर सामने आते रहे हैं। कुछ साल पहले रजौली में जब सेक्स रैकेट का खुलासा हुआ था तो प्रशासनिक महकमे में भी खलबली मच गई थी । तब पंचायत सचिव और सरकारी कर्मचारी भी पकड़े गए थे । हिसुआ और वारिसलीगंज में भी इस तरह के मामले सामने आ चुके हैं । हाल ही में बारिसलीगंज थाना क्षेत्र से लड़कियों को राजगीर ले जा कर देह व्यापार कराने का मामला भी सामने आया है । अब एक बार फिर बड़े सेक्स रैकेट का खुलासा होने के बाद हड़कंप मचा हुआ है ।

बहला-फुसलाकर 3 लड़कियों से करा रही थी देह व्यापार
थानाध्यक्ष ने बताया कि छापेमारी के दौरान काफी देर तक घर का दरवाजा बंद रहा। करीब पौन घंटे बाद दरवाजा खुला तो 4 महिलाओं के साथ मुफस्सिल थाने के केंदुआ गांव के संटू कुमार व सुबोध कुमार को गिरफ्तार किया गया । दोनों ही युवक नशे में धुत थे । इस दौरान सेक्स रैकेट चलाने वाली गीता देवी के अलावा हिसुआ, रजौली और गया कि 3 लड़कियों को भी बरामद किया गया । बरामद तीन लड़कियों ने गीता देवी पर बहला-फुसलाकर धंधा करवाने का आरोप लगाया है । आवश्यक पूछताछ के बाद तीन लड़कियों को उनके परिजनों को सौंपा गया है ।

शहर से एकांत में बनाया था अय्याशी का ठिकाना
बता दे कि जहां छापेमारी की गई वह इलाका नवादा शहर से सटा लेकिन एकांत इलाका है और वहां काफी दिनों से शराब और शबाब का गंदा खेल चल रहा था । पकड़े गए दोनों युवक शराब के नशे में धुत मिले हैं । इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि यहां शराब और शबाब का गंदा खेल रोज चल रहा था । जिस घर में इस काले धंधे का खुलासा हुआ है वह घर एक सैनिक का बताया जा रहा है । सेक्स रैकेट चला रही गीता ने घर के फ्लैट को किराए पर ले रखा था।

इंडो-नेपाल बॉर्डर के पास एक नेपाली गिरफ्तार

सीतामढ़ी। इंडो-नेपाल बॉर्डर के पास एक नेपाली नागरिक को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार किया गया यह शख्स एक तस्कर है। लेकिन इस बार किसी नार्मल तस्कर को नहीं बल्कि इंसानी खोपड़ियों और हड्डियों के तस्कर को गिरफ्तार किया गया है। मेजरगंज थाना क्षेत्र के बसबिट्टा में तैनात एसएसबी के जवानों ने इंडो-नेपाल बॉर्डर के समीप से एक नेपाली नागरिक को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार शख्स के पास से एक बैग में 48 छोटे-छोटे मानव शरीर की हड्डियों के साथ 22 खोपड़ी बरामद किया है। बाद में उस नेपाली नागरिक व हड्डियों को स्थानीय थाना पुलिस के हवाले कर दिया गय। एसएसबी के कैम्प इंचार्ज एसआई श्रीराम ने इसकी पुष्टि की है। गिरफ्तार व्यक्ति नेपाल के मलंगवा थाना क्षेत्र के सुदामा वार्ड संख्या 9 निवासी राम स्वार्थ महतो है।
एसएसबी की पूछताछ पर नेपाली नागरिक ने बताया कि वह पटना गांधी सेतु के नीचे से पटना के ही एक व्यक्ति के सहयोग से नदी किनारे हड्डी एकत्रित कर नेपाल ले जा रहा था। जिसे वह नेपाल के काठमांडू में एक व्यापारी के हाथों बेचता। गिरफ्तार शख्स की माने तो इन हड्डियों का बांसुरी व बीन बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। थानाध्यक्ष राजदेव प्रसाद यादव ने बताया कि एसएसबी द्वारा सुपुर्द किए गए हड्डी, जो प्रथम दृश्या मानव का हड्डी लगते हैं। और तस्कर ने भी हड्डी को मानव का ही बताया है। हड्डियों को जांच के लिए फॉरेंसिक लैब, मुजफ्फरपुर भेजा जाएगा। जांच रिपोर्ट आने पर ही विशेष कुछ कहा जा सकता है।

अधिकारियों को आदेश किसान धरना बंद करायें

बृजेश केसरवानी  
लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्मत्री योगी अदित्यनाथ ने राज्य के सभी जिले के डीएम और एसपी को किसानों के आंदोलन को लेकर सख्त निर्देश दिए हैंं।
योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से दो टूक कहा है कि किसानों के धरना को तुरंत समाप्त कराए। सीएम योगी ने किसानों को घर वापस जाने के लिए धरना स्थल पर परिवहन विभाग की कई बसेंं भी लगाने के आदेश दिए हैं। वहीं किसना नेता और पुलिस प्रशासन के बीच कई जगह बातचीत का दौर जारी है लेकिन अभी तक कोई नतीजा नहीं निकल सका है। उसके बावजूद भी अभी तक कई जगहों पर धरना स्थल नहीं खाली कराए जा सके हैं।

गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली समेेेत उत्तर प्रदेश के कई जगहों पर किसान सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ धरना दे रहे हैं। किसानों का कहना है कि धरना कानून वापसी तक जारी रहेगा। कई जगह आधी रात के बाद अचानक पुलिस और प्रशासन की टीम धरना स्थल पर पहुंची और किसानों को तत्काल धरना खत्म करने के लिए कहा, जिस पर किसानों ने धरना खत्म करने से इंकार कर दिया, जिसको लेकर प्रशासनिक अधिकारियों की किसानों से कई जगहों पर तीखी नोंकझोंक भी हुई। सरकार का कहना है कि किसानों को हटाने के लिए किसी भी तरह का बल प्रयोग नहीं किया जा रहा है।

कोई भी उबटन त्वचा के लिए हानिकारक

त्वचा की गुणवत्ता बेहतर करने के लिए लोग अक्सर कई तरह के स्किन केयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, स्किन टाइप के अनुसार सभी ब्यूटी उत्पाद लोगों की त्वचा को सूट करे ये जरूरी नहीं है। ऐसे में घरेलू उपचारों का इस्तेमाल ज्यादा कारगर साबित हो सकता है। अगर आप उबटन का उपयोग करते है। तो आपको काफी फायदा होगा। उबटन का उपयोग त्वचा के लिए कारगर साबित हो सकता है। 
पिंपल्स से मिलेगा छुटकारा के लिए उबटन -
2 चम्मच नीम पाउडर, 3 चम्मच बेसन पाउडर, 2 चम्मच पिसा हुआ खीरा, 2 चम्मच चंदन पाउडर और चुटकी भर हल्दी इन सबकों मिलाकर एक पेस्ट तैयार कर लें। थोड़ा गाढ़ा पेस्ट ही बनाएं इसके बाद चेहरे पर लगाने के बाद धीरे-धीरे हाथों से मसाज करें। इसके बाद ठंडे पानी से चेहरे को धुल लें कुछ दिन बाद आपको खुद फर्क दिखने लगेगा। बता दें कि बहुत लोगों को नीम उनके स्किन को शूट नहीं करता है। तो इसने नहीं भी डाल सकती हैं।
उबटन से निखारे त्वचा
2 चम्मच दूध, 2 चम्मच बेसन, 1 चम्मच चंदन पाउडर और आधा चम्मच हल्दी पाउडर और चाहे तो गुलाब जल भी कुछ बूंद ले सकती हैं। गुलाबजल से त्वचा को ठंडक मिलती है। और निखार भी अच्छा आता है। अब इन सबको एक बर्तन में अच्छे मिला लें। इस पैक को आप चेहरे के साथ ही बॉडी पर भी लगा सकती हैं। इस उबटने से आपके शरीर और त्वचा में निखार आएगा।ये हमारी त्वचा पर जमी हर गंदगी को निकाल देती हैं।

फिल्म: केजीएफ चैप्टर 2 की रिलीज डेट की घोषणा

केजीएफ चैप्टर 2 की रिलीज डेट की घोषणा
कविता गर्ग  
मुंबई। साल 2021 की मोस्ट अवेटेड फिल्म केजीएफ चैप्टर 2 को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। 29 जनवरी को फिल्म के मेकर्स फैंस को तोहफा देते हुए फिल्म की रिलीज डेट की अनाउंसमेंट करने जा रहे हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक संजय दत्त और यश की इस मोस्ट अवेटेड फिल्म की रिलीज डेट की अनाउंसमेंट शाम को 6 बजकर 32 मिनट पर की जाएगी। इसके साथ ही केजीएफ चैप्टर 2 की रिलीज डेट को लेकर लगाई जा रही सभी अटकलों पर भी विराम लग जाएगी।
हाल ही में एक्टर यश के बर्थडे पर केजीएफ चैप्टर 2 का टीजर रिलीज किया गया था। फिल्म के टीजर ने आउट होते ही यूट्यूब पर धमाल मचाना शुरू कर दिया और टीजर ने महज 24 घंटों में सभी रिकॉर्ड को तोड़ते हुए एक नया बेंच मार्क सेट कर दिया। 100 मिलियन से अधिक व्यूज के साथ यह अब तक का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला टीजर बन गया था।
टीजर में रॉकी का बचपन और उसकी मां का स्ट्रगल दिखाया गया है। साथ ही इसमें अधीरा का भी विलन अवतार देखने को मिल रहा है। वहीं रॉकी को फूल ऑन हीरो अवतार में शानदार तरीके से गाड़ियों को उड़ाते देखा जा सकता है। फिल्म में रवीना टंडन भी मुख्य भूमिका में हैं। जो कि एक सांसद का किरदार निभा रही हैं। केजीएफ चैप्टर 2 के स्टारकास्ट में संजय दत्त, यश और रवीना टंडन के अलावा श्रीनिधि शेट्टी और प्रकाश राज जैसे कई बड़े सितारे शामिल हैं। वहीं 29 जनवरी को शाम 6 बजकर 32 मिनट पर फिल्म की रिलीज डेट की अनाउंसमेंट होने वाली है।

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर 28 फरवरी तक प्रतिबंध

 हरिओम उपाध्याय  

 नई दिल्ली। अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर लगाया गया प्रतिबंध 28 फरवरी तक जारी रहेगा। डीजीसीए ने इसकी जानकारी दी है। हालांकि वंदेभारत मिशन के जरिये सीमित संख्या में उड़ानें जारी रहेंगी।

आपको बता दें कोरोना के नए स्ट्रेन की वजह से डीजीसीए ने यह कदम उठाया है। लेकिन देश के भीतर घरेलू उड़ाने जारी रहेंगी। घरेलू उड़ान 25 मई को 30,000 यात्रियों के साथ शुरू हुआ और अब 30 नवंबर 2020 को 2.52 लाख का आंकड़ा इसने पार कर दिया है।

सावधान: इंसानों में पथरी होने के लक्षणों को जानिए

पथरी से आजकल बहुत लोग जुज रहे हैं। मरीज को इसके बारे में पता भी नहीं चलता। अगर हम अपनी लाइफस्टाइल में कुछ खास बातों का ही ख्याल रखें तो हम पथरी से कोसों दूर रह सकते हैं। पथरी होने के ये लक्षण है। 
तेज दर्द- किडनी में पथरी होने पर बहुत तेज दर्द होता है। यह दर्द पेट में या पेट और पीठ के निचले हिस्से पर होता है। साथ ही कभी कभी एकदम से तेज दर्द होने लगता है। ऐसा बार-बार होने पर आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए और पथरी के बारे में पूछना चाहिए।
रुक रुककर पेशाब आना- पथरी होने पर मरीज को रुक रुककर और बार-बार पेशाब आता है। साथ ही कई बार मरीज को पेशाब में खून आने की शिकायत भी होती है।
पेशाब का रंग बदलना- किडनी में पथरी होने पर सबसे ज्यादा असर पेशाब पर ही पड़ता है। पथरी होने पर पेशाब का रंग बदल जाता है। और अलग रंग का पेशाब आने लगता है। आप इससे भी पता लगा सकते हैं। कि आपको पथरी से जुड़ी हुई कोई शिकायत तो नहीं है।
उल्टी दस्त होना। किडनी में पथरी होने से पेट पर भी असर पड़ता है। जिसकी वजह से बार-बार उल्टी होना या दस्त होने की शिकायत होती रहती है। अगर आपको कुछ गलत खाने-पीने की वजह से उल्टी-दस्त हो रहे हैं। तो आप तुरंत डॉक्टर से सलाह लें।
बुखार आना- मूत्र रोग या संक्रमण होने पर रोगी को तेज बुखार और कंपकपी आने लगती है। उनके शरीर से पसीना बहने लगता है।

फिसली जुबान, पीएम किसान हित नहीं कर सकते

बरेली। व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास राज्यमंत्री कपिल देव की शुक्रवार को सर्किट हाउस में पत्रकारों से बात करने के दौरान जुबान फिसल गई। दिल्ली में किसानों के आंदोलन पर बात करने के दौरान मंत्री बोल पड़े कि प्रधानमंत्री जी कभी भी किसानों का हित नहीं कर सकते हैं। इस बीच उन्हें अहसास हुआ कि कुछ गलत बोला है, तब वह कहने लगे कि प्रधानमंत्री किसानों का अहित नहीं कर सकते हैं। हमेशा किसानों के हित में सोचते हैं।
मंत्री के समक्ष बरेली जनपद की कौशल विकास योजना की वो तस्वीर रखी जिसे अधिकारी छिपाते आए हैं। बरेली जनपद में संचालित केंद्रों के फर्जीवाड़े को उजागर करने के लिए जांच कराएंगे। डीएम को कौशल विकास सेंटरों की जांच एसडीएम से कराने के लिए कहा है, ताकि युवाओं को रोजगार मुहैया कराया जा सके। इस दौरान कौशल विकास को लीड कर रहे आईटीआई प्रधानाचार्य कई बिंदुओं पर सटीक जानकारी नहीं दे सके। तब मंत्री ने कोरोना को साथ ले लिया, कहने लगे कि कोरोना की वजह से कौशल विकास का कार्य प्रभावित हुआ है। राज्यमंत्री बिजनौर से लखनऊ जा रहे थे। सर्किट हाउस में कुछ देर के लिए रुके थे।

महाराष्ट्र: अभिनेता जोशी के पिता का निधन हुआ

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर शरमन जोशी के पिता अरविंद जोशी का निधन हो गया है। ट्रेड एनालसिस्ट कोमल नाहटा ने जानकारी दी है। कि अरविंद जोशी का मुंबई के नानावटी अस्पताल में निधन हो गया है। बता दें, अरविंद जोशी के दो बच्चे हैं। शरमन जोशी और मानसी रॉय जोशी। मानसी की शादी रोहित रॉय से हुई है। अरविंद जोशी गुजराती थिएटर एक्टर और डायरेक्टर थे। हालांकि उन्हें उनके थिएटर में किए काम की वजह से ज्यादा जाना जाता है। उन्होंने शोले, इत्तेफाक और अपमान की आग जैसी फिल्मों में भी काम किया है। अरविन्द जोशी ने आज नानावटी अस्पताल में आखिरी सांस ली।

कृषि कानून वापसी के लिए संसद परिसर में धरना

हरिओम उपाध्याय  
नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की अगुवाई में पार्टी सांसदों ने विवाद में तीन नये कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते हुए शुक्रवार को संसद भवन परिसर में धरना दिया। कांग्रेस सांसदों ने बजट सत्र के पहले दिन संसद परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने धरना दिया। इस धरने में राहुल गांधी के अलावा लोकसभा में पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी, मुख्य सचेतक कोडिकुनिल सुरेश और कई अन्य सांसद शामिल हुए। कांग्रेस सांसदों ने ‘काला कानून वापस लो’ और ‘नरेंद्र मोदी, किसान विरोधी’ के नारे भी लगाए। सुरेश ने कहा, ”तीनों कानूनों के खिलाफ लाखों किसान दो महीने से सड़कों पर हैं, लेकिन सरकार उनकी सुन नहीं रही। हम इस सत्र में सरकार पर पूरा दबाव बनाएंगे कि इन किसान विरोधी कानूनों को वापस लिया जाए।”
कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों ने किसान आंदोलन के समर्थन में संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति के अभिभाषण का भी बहिष्कार किया।

आलू भरा मसाला, मिर्ची वड़ा स्वाद से भरपूर है

 आलू भरा मसाला मिर्ची वडा स्वाद से भरपूर है। जो बनाने में भी आसान है। ये खाने में बहुत ही स्पाइसी और क्रिस्पी है। ये तीखा खाने वाले लोगों को बहुत ज्यादा पसंद आता है। 
समाग्री...
हरी मिर्च (बड़ी व मोटी)
आलू (उबले व मसले हुए)
जीरा पाउडर, लाल मिर्च पाउडर और चाट मसाला
बेसन...
अदरक-लहसुन का पेस्ट
पानी आवश्यकतानुसार
नमक स्वादानुसार
तलने के लिए तेल
विधि...
-मसले हुए आलू में लाल मिर्च पाउडर, नमक, जीरा पाउडर और चाट मसाला मिलाएं।
हरी मिर्चों में चीरा लगाकर बीज निकाल लें और आलू वाला मिश्रण भरें।
एक अन्य बाउल में बेसन अदरक-लहसुन का पेस्ट और पानी मिलाकर घोल बना लें।
भरवां हरी मिर्च को घोल डुबोकर गरम तेल में क्रिस्पी होने तक तल लें।

अमेरिका: 33 साल की सारा ने अपना वजन घटाया

वाशिंगटन डीसी। अमेरिका के गिल्बर्ट में रहने वाली सारा वजन कम करने वाले लोगों के लिए प्रेरणा स्त्रोत बन सकती है। बता दें कि 33 साल की सारा के फैंस दुनिया भर में हैं। सारा दूसरे फिटनेस ट्रेनर्स से इसलिए अलग हैं। क्योंकि उन्होंने ये जर्नी लोगों का मुंह बंद करने को लेकर शुरू की थी। एक वक्त ऐसा था। जब लोग सारा को मोटी कहकर पुकारते थे। उस समय सारा को ये भी लगने लगा था। कि उनकी शादी नहीं होगी। सारा जब 12 साल की थीं। तभी से वह ओवरईटिंग करने लगी थीं। दिन पर भूखी रहतीं और रात में ढेर सारा खाना खातीं। इसकी वजह से ही 25 साल के होते-होते उनका वजन 100 किलो तक पहुंच गया था। सारा ने लोगों के तानों से तंग आकर वजन कम करने की ठानी। वर्टिकल गैस्ट्रिक स्लीव सर्जरी कराई। फिर बेहद मुश्किल रूटीन फॉलो करने लगीं। पिछले 4 सालों से वे ऐसा ही रूटीन फॉलो कर रही हैं। दिनभर में 2 हजार कैलोरी से अधिक भोजन नहीं खातीं। वे हफ्ते में 6 दिन जिम जाती हैं। एक घंटे कार्डियो करती हैं। काफी एक्सरसाइज करती हैं। और आज उनकी बॉडी ऐसी है। जिसे पाने की चाह हर महिला की होगी। सारा का वजन 55 किलो है। उनकी शादी हो चुकी है।

दिल्ली: आंदोलन को विस्तृत करने में जुटे 'किसान'

नई दिल्ली। गाजीपुर बॉर्डर पर देर रात चले हाईवोल्टेज ड्रामे के बाद जहां पुलिस वापस गई वही किसान भी आंदोलन को तेज करने में जुट गए हैं। हरियाणा के कुछ शहरों से किसानों के जत्थे वापस दिल्ली की ओर लौटने लगे हैं। जबकि कल किसान गाजीपुर छोड़कर वापस अपने अपने गांव जाने लगे थे। उधर किसान नेता राकेश टिकैत के धरना स्थल पर टिके रहने के कारण खत्म होने की कगार पर पहुंचा किसान आंदोलन फिर से तेज हो गया है। आज उनके भाई नरेश टिकैत ने किसानों की महापंचायत बुलाई है। 11 बजे शुरू होने वाली किसानों की महापंचायत में मंथन होगा और आगे की रणनीति तय होगी इधर किसानों के जत्थे जो दिल्ली रवाना हो रहे है। वह पुलिस और प्रशासन के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं।

मोबाइल ऐप से असली-नकली नोट का पता चलेगा

क्या किसी मोबाइल ऐप से असली और नकली नोट का पता चलता है। आरबीआई ने दी इसकी पूरी जानकारी, पढिये पूरी खबर
अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। सरकार ने नोटबंदी के बाद 2,000 रुपये का नया नोट जारी किया था। नेशनल क्राइम रेकॉर्ड ब्यूरो (एनसीबी) की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले साल जितने भी नकली नोट पकड़े गए, उनमें सबसे ज्यादा 2,000 रुपये के ही थे। ऐसे में आम आदमी की मुश्किलें तब बढ़ जाती है। जब कभी बैंक एटीएम से 2000 रुपये का नोट नकली आए. इसीलिए, बैंकों में जाकर ग्राहक हमेशा यहीं सवाल पूछते हैं। कि क्या कोई ऐप ऐसी है जिससे नकली और असली नोट का पता चल सकता है। इसको लेकर आरबीआई ने अब अपनी वेबसाइट पर जानकारी दी है।
आरबीआई का कहना है। कि मोबाइल एडेड नोट आइडेंटिफ़ायर (मोबाइल फोन की सहायता से नोट की पहचानकर्ता)–(मणि) एक ऐप है। लेकिन ये ऐप दृष्टिबाधित लोगों के लिए है।
इस नि:शुल्क एप्लीकेशन को एक बार इंस्टॉल करने के बाद इन्‍टरनेट की आवश्यकता नहीं होती है।
यह एप्‍लीकेशन नोट के अग्र अथवा पश्च – भाग/हिस्से की जांच करके महात्मा गांधी शृंखला तथा महात्मा गांधी (नई) शृंखला के बैंक नोटों के मूल्यवर्ग की पहचान करने में सक्षम है।
इससे प्रकाश की विभिन्‍न परिस्थितियों (सामान्य प्रकाश/दिन का प्रकाश/कम प्रकाश आदि) के अंतर्गत अलग-अलग कोणों से पकड़े गए आधे मुड़े हुए नोटों की पहचान भी की जा सकती है। आपको बता दें कि यह मोबाइल एप्लीकेशन किसी नोट के असली अथवा जाली होने को प्रमाणित नहीं करता है।

बदायूं: 5 महीने बाद वायरल हुआ दुष्कर्म का वीडियों

बदायूं। बदायूं जिले में एक महिला से सामूहिक दुष्‍कर्म का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने घटना में शामिल दो नाबालिग समेत छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है। बदायूं के वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक संकल्‍प शर्मा ने शुक्रवार को बताया कि मामला जिले के फैजगंज थाना क्षेत्र का है और पीड़िता की तहरीर पर बृहस्‍पतिवार को प्राथमिकी दर्ज कर आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के अनुसार बदायूं के थाना फैजगंज बेहटा क्षेत्र में एक महिला से सामूहिक दुष्कर्म की घटना का वीडियो वायरल हुआ है। पुलिस को दी गई पीड़िता की तहरीर में बताया गया है कि लगभग पांच माह पहले वह जंगल में लकड़ियां बीनने गई थी। वहां पांच युवकों ने उसके साथ दुष्कर्म किया जबकि छठा युवक घटना का वीडियो बनाता रहा। तहरीर के अनुसार युवकों ने महिला को धमकी दी कि अगर उसने दुष्‍कर्म के बारे में अपने परिजन या पुलिस को जानकारी दी तो उसका वीडियो वायरल कर दिया जाएगा और उसके पति और बच्चों को मार दिया जाएगा।

दिल्ली: मैदान-ए-जंग में तब्दील होता सिंघु बार्डर

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। दिल्ली के सिंघु बार्डर पर किसान आंदोलन पल-पल रंग बदलता नजर आ रहा है। मीडिया रिपोर्टस के मुताबिक, सिंघु बार्डर पर स्थानीय प्रदर्शनकारियों और किसान प्रदर्शनकारियों के बीच पत्थरबाजी होने से माहौल में सरगर्मी बढ़ गई है। बढ़ते बवाल को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर हालात काबू में करने का प्रयास किया। इस दौरान एक पुलिसकर्मी और एक व्यक्ति के चोटिल होने की बात सामने आई है। पुलिस ने घटना को नियंत्रित करने के लिए आंसूगैस के गोलों का भी प्रयोग किया। इससे पहले भारतीय किसान यूनियन के नेता और गाजीपुर बॉर्डर पर आंदोलन की अगुवाई कर रहे राकेश टिकैत के आंसू काम कर गए थे। उनकी अपील के बाद किसानों का हुजूम गाजीपुर पर एक बार फिर जमा हो गया। स्थिति को भांप कर जिला प्रशासन ने यू टर्न लेते हुए पुलिस की संख्या को नियंत्रित कर दिया। गाजीपुर बॉर्डर पर शुक्रवार सुबह एक बार फिर आंदोलनकारियों की चहल कदमी बढ़ती भी नजर आने लगी है।

किसानों को लेकर राहुल-प्रियंका ने उठाई आवाज

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा को लेकर कई किसान नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज होने की पृष्ठभूमि में शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि ‘किसान-मजदूर पर वार’ से देशविरोधी ताकतों को फायदा होगा। उन्होंने ट्वीट कर आरोप लगाया, ” प्रधानमंत्री हमारे किसान-मज़दूर पर वार करके भारत को कमज़ोर कर रहे हैं। फ़ायदा सिर्फ़ देश-विरोधी ताक़तों का होगा।” कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा ने भी प्रधानमंत्री पर निशाना साधा और कहा कि किसानों को ‘डराना-धमकाना’ महापाप है।

संघीय ढांचे की शक्ति का अद्वितीय उदारण: राष्ट्रपति

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोरोना महामारी के दौरान केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए कदमों और टीकाकरण अभियान की सराहना करते हुए शुक्रवार को कहा कि सरकार ने अपने निर्णयों से देश के संघीय ढांचे की सामूहिक शक्ति का अद्वितीय उदारण प्रस्तुत किया है। कोविंद ने बजट सत्र के पहले दिन संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक को संबोधित करते हुए पिछले एक साल के दौरान केंद्र सरकार की ओर से किए गए कई कार्यों का उल्लेख किया। इस दौरान उन्होंने 26 जनवरी को किसान आंदोलन के दौरान हुई हिंसा पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि तिरंगे का अपमान दुर्भाग्यपूर्ण है। कानून की गंभीरता से पालन होना जरूरी है।

मुंबई: केंद्र सरकार के खिलाफ उतरे अन्‍ना हजारे

मुंबई। देश की राजधानी दिल्‍ली की सीमा पर पिछले 2 महीने से ज्‍यादा समय से कृषि कानून के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन के बीच अब खबर आई है कि समाजसेवी अन्‍ना हजारे भी केंद्र सरकार के खिलाफ 30 जनवरी से आमरण अनशन करने जा रहे हैं। अन्‍ना हजारे का कहना है कि वह साल 2018 से स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू के लिए केंद्र सरकार से विनती कर रहे हैं लेकिन उनकी किसी भी बात को तवज्‍जो नहीं दी जा रही है। उन्‍होंने कहा कि सरकार के इस रवैये से नाराज होकर ही अब उन्होंने 30 जनवरी से आमरण अनशन करने का फैसला किया है। बता दें कि अन्ना हजारे का ये अनशन रालेगण सिद्धि के यादव बाबा मंदिर में होगा।

यूपी: प्लेट और कलर कोडेड स्टीकर लगाने का निर्देश

संदीप मिश्रा  

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने यूपी में सभी वाहनों पर हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट और कलर कोडेड स्टीकर लगाने को लेकर निर्देश जारी कर दिए हैं। सरकार ने इन्हें अनिवार्य कर दिया है। इसके तहत प्रदेश में सबसे पहले सभी व्यावसायिक वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना होगा। इसके लिए 15 अप्रैल आखिरी तारीख तय कर दी गई है। वहीं, निजी वाहनों के लिए उनके क्रमांक के अनुसार अलग-अलग तारीखों तक हाई सिक्योरिटी प्लेट लगवाना अनिवार्य किया गया है। कुल मिलाकर निजी वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट की यह प्रक्रिया अगले साल 15 जुलाई तक चलेगी। लेकिन, दिल्ली-एनसीआर के सभी वाहनों (निजी एवं व्यावसायिक) में इसी साल 15 अप्रैल तक हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगा दी जानी है। शासन द्वारा जारी निर्देशों में कहा गया है कि एसोसिएशन ऑफ रजिस्ट्रेशन प्लेट्स मैन्युफैक्चरर्स ऑफ इंडिया एवं परिवहन आयुक्त की तरफ से प्राप्त सुझावों पर विचार करने के बाद एक प्लान तैयार किया गया है। इसके तहत 15 अप्रैल 2021 तक दिल्ली-एनसीआर के सभी जिलों के निजी वाहनों एवं उत्तर प्रदेश के सभी जनपदों के व्यवसायिक वाहनों में हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगाना अनिवार्य है। इसके बाद संबंधित वाहनों के खिलाफ प्रवर्तन की कार्रवाई की जाएगी। दिल्ली-एनसीआर छोड़कर यूपी के बाकी सभी जिलों में निजी वाहनों पर वाहन रजिस्‍ट्रेशन के इकाई नम्‍बर के अनुसार हाई सिक्‍योरिटी प्‍लेट लगाने की तारीखें तय की गई हैं। इसके तहत जिन वाहनों के नंबर के अंत में 0 या 1 है उन पर 15 जुलाई 2021 तक हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट एवं कलर कोडेड स्टीकर लगवाना अनिवार्य होगा। वहीं, जिन निजी वाहनों के पंजीकरण नंबर के अंत में 2 और 3 हैं, उन पर 15 अक्टूबर तक, जिन नंबर का इकाई नंबर 4 या 5 है, उन पर 15 जनवरी 2022 तक, जिनके वाहनों के नंबर के अंत में 6 या 7 हैं, उन्हें 15 अप्रैल 2022 तक और जिनके वाहनों के पंजीकरण की इकाई का नंबर 8 या 9 है, उन्हें 15 जुलाई 2022 तक हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट एवं कलर कोडेड स्टीकर लगवाना अनिवार्य होगा। निर्धारित तारीखों के बाद हाई सिक्योरिटी प्लेट न लगवाने वाले वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

यूपी गेट पर आमना-सामना होने की स्थिति बनीं

अश्वनी उपाध्याय    

गाजियाबाद। गाजियाबाद प्रशासन द्वारा यूपी गेट पर प्रदर्शन स्थल को खाली करने की अंतिम चेतावनी दिए जाने के बावजूद भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के सैकड़ों सदस्य शुक्रवार को दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर डटे रहे। यहां एकत्रित लोगों की संख्या रातभर में बढ़ गई। यहां राकेश टिकैत की अगुवाई में बीकेयू के सदस्य 28 नवंबर से ही प्रदर्शन कर रहे हैं। बीकेयू के आह्वान पर आंदोलन में शामिल होने के लिए पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ, बागपत, बिजनौर, मुजफ्फरनगर, मुरादाबाद और बुलंदशहर जिलों से बड़ी संख्या में किसान शुक्रवार तड़के यूपी गेट पहुंचे, जबकि रात में यहां सुरक्षाबलों की संख्या को कम किया गया।

चावल और गेहूं के 40 गोदामों में सीबीआई की रेड

राणा ओबराय   
चंडीगढ़। दिल्ली हिंसा के बाद पंजाब में सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (सीबीआई) ने चावल और गेहूं के 40 गोदामों पर रेड की है। सूत्रों अनुसार देर रात शुरू हुई छापेमारी में 2019-20 और 2020-21 में खरीदे गए गेहूं और चावल के नमूने लिए हैं। जानकारी अनुसार एफ.सी.आई. के कुछ गोदामों के अलावा पनग्रेन और पंजाब वेयरहाउसिंग कॉर्पोरेशन लिमिटेड के लगभग सभी गोदामों में छापे मारे जा रहे हैं। जिसमें मोगा, फाजिल्का, पट्टी सहित पंजाब के अन्य स्थानों के गोदाम भी शामिल है। बताया जा रहा है कि यह कार्रवाई अभी भी जारी है।

किसानों के खिलाफ स्थानीय लोग उतरे, लाठीचार्ज

पालूराम  
नई दिल्ली। कृषि कानूनों को लेकर बीते दो महीने से दिल्ली की सीमा पर डटे किसानों को लेकर अब स्थानीय लोगों का गुस्सा बाहर निकलने लगा है। हरियाणा-दिल्ली सीमा पर सिंघु बार्डर पर जमे किसानों का स्थानीय लोगों ने विरोध करते हुए पत्थरबाजी की। इस पर मौके पर जमा दिल्ली पुलिस को लाठीचार्ज के साथ आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर किसान आंदोलन के नाम पर दिल्ली में बवाल मचाए जाने की घटना ने सिंघु के साथ-साथ टिकरी और गाजीपुर बार्डर पर रहने वाले लोगों के धैर्य को खत्म कर दिया है। किसानों के सड़क पर महीनों बैठे होने से स्थानीय लोगों का जनजीवन गंभीर रूप से प्रभावित हुआ है। लोगों का घर से निकलना मुश्किल हो गया है, आवाजाही ठप सी हो गई है। इसी का गुस्सा 26 जनवरी के बाद से लगातार दिखाई पड़ रहा है।

27 जनवरी को दिल्ली के उन तमाम स्थानों के लोगों ने हाथों में तख्तियां लेकर विरोध प्रदर्शन किया था, जहां किसानों का जमावड़ा है, लेकिन किसानों के अब भी जमा रहने से स्थानीय लोगों की सहनशीलता जवाब देने लगी है। इसका नजारा शुक्रवार को सिंघु बार्डर पर देखने लगा, जहां स्थानीय लोगों ने किसानों को हटाने के लिए दिल्ली पुलिस के जवानों की मौजूदगी में ही पत्थरबाजी कर दी। किसानों ने भी पलटवार किया, जिससे माहौल गर्म हो गया था। आखिरकार दिल्ली पुलिस के जवानों ने मोर्चा संभालते हुए स्थिति को संभाला।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...