बुधवार, 8 अप्रैल 2020

15 जनपद,15 तक पूरी तरह सील

अकाशुं उपाध्याय


लखनऊ। यूपी सरकार ने जिन 15 जिलों को पूरी तरह से सील किया है, वह हैं- लखनऊ, आगरा, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, कानपुर, वाराणसी, शामली, मेरठ, बरेली, बुलंदशहर, फिरोजाबाद, महाराजगंज, सीतापुर और सहारनपुर। इन जिलों को 13 अप्रैल तक पूरी तरह से सील किया जाएगा। योगी सरकार का कहना है कि इन जिलों को 13 अप्रैल तक पूरी तरह सील कर दिया गया है। इस दौरान कोई दुकानें नहीं खुलेंगी, सिर्फ आश्वयक वस्तुओं की होम डिलिवरी होगी। इसके साथ ही केवल कर्फ्यू पास वालों को घर से निकलने की इजाजत दी जाएगी। 13 अप्रैल को स्थिति की समीक्षा की जाएगी, उसके बाद आगे का फैसला लिया जाएगा। गाजियाबाद जनपद में 13 स्थान, गौतम बुध नगर जनपद में 12 स्थानों को चिन्हित किया गया। इसी प्रकार 15 जनपदों में 'हॉट स्पॉट' केंद्र बनाते हुए सील कर दिए गए हैं।


उत्तर प्रदेश में कोरोना के 328 मामले सामने आए हैं, जिसमें 281 एक्टिव केस है। तीन लोगों की मौत हो चुकी है और 21 लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं। गौतमबुद्ध नगर में कोरोना के 61, आगरा में 49, मेरठ में 25, गाजियाबाद में 23, लखनऊ में 21, कानपुर में 16, शामली में 14, सहारनपुर में 12, सीतापुर में 8, वाराणसी में 7, महाराजगंज में 6, बरेली में 6, लखीमपुर खीरी में 5, गाजीपुर में 5, बस्ती में 5 केस सामने आ चुके हैं।


प्रत्येक भारतीय के जीवन की सुरक्षा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को लोकसभा एवं राज्यसभा में विपक्ष समेत विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं को बताया कि कोरोना वायरस के कारण लागू देशव्यापी लॉकडाउन एक बार में नहीं हटाया जायेगा। सर्वदलीय बैठक में शामिल रहे बीजद नेता पिनाकी मिश्रा ने यह बात बतायी।


वहीं, प्रधानमंत्री ने कहा कि स्थिति ‘सामाजिक आपातकाल’ जैसी है, कड़े निर्णय लेने की जरूरत है और हमें अवश्य ही सतर्क रहना चाहिए। मोदी की यह टिप्प्णी ऐसे समय में आई है जब उन्होंने विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक की और कोरोना वायरस के कारण देश में उत्पन्न स्थिति और सरकार द्वारा इसे तेजी से फैलने से रोकने के प्रयासों पर चर्चा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 पर सर्वदलीय बैठक में नेताओं से कहा कि सरकार की जिम्मेदारी प्रत्येक व्यक्ति के जीवन की सुरक्षा करना है। उन्होंने नेताओं से कहा, ‘‘स्थिति ‘सामाजिक आपातकाल’ जैसी है, कड़े निर्णय लेने की जरूरत है और हमें अवश्य ही सतर्क रहना चाहिए। प्रधानमंत्री के साथ हुई बैठक के बाद बीजद नेता पिनाकी मिश्रा ने कहा कि नरेंद्र मोदी ने स्पष्ट किया कि 14 अप्रैल को एक साथ लॉकडाउन नहीं हटेगा। मिश्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने हमसे कहा कि कोरोना वायरस से पहले और कोरोना वायरस के बाद का जीवन एक जैसा नहीं होगा।


संक्रमितो की संख्या 5195, मौतें 149

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले बुधवार को बढ़कर 5194 हो गये जबकि इससे हुयी मौत का आंकड़ा 149 पर पहुंच गया है।  स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने नियमित संवाददाता सम्मेलन में बताया कि मंगलवार से कोरोना संक्रमण के 773 मामले सामने आये और इस दौरान 32 लोगों की मौत हुई है। अग्रवाल ने संक्रमण की गति को रोकने के लिये लागू लॉकडाउन को प्रभावी बताते हुये कहा कि संक्रमण को रोकने के लिये राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न मंत्रालयों और विभागों के सहयोग से स्थानीय लोगों को इस संक्रामक बीमारी के बारे में जागरुक करने तथा चिकित्सा उपायों को प्रभावी बनाने पर जोर दिया जा रहा है।


पाकः15 अप्रैल के बाद खुलेगी दुकाने

पाकिस्तान में देश की वाणिज्यिक राजधानी कहे जाने वाले शहर कराची के दुकानदारों ने स्पष्ट शब्दों में कहा है कि वे 15 अप्रैल के बाद अपनी दुकानों को खोलकर रहेंगे।


इस्लामाबाद। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार, सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने निजी अस्पतालों के मालिकों व वरिष्ठ चिकित्सकों से बात की जिसमें उन्हें कोरोना महामारी के और गंभीर होते जाने का हवाला देते हुए लॉकडाउन को बढ़ाने की सलाह दी गई. चिकित्सकों ने कहा कि लॉकडाउन नहीं बढ़ाने की स्थिति में प्रांत और देश को गंभीर नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह इस सुझाव पर विचार करेंगे. चिकित्सा विशेषज्ञों द्वार पूरे देश में लॉकडाउन की अवधि को बढ़ाने के आग्रह के बीच, सिंध की राजधानी और पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची के दुकानदारों ने सरकार से दो टूक शब्दों में कह दिया कि वे हर हाल में 15 अप्रैल से अपनी दुकानें खोलने जा रहे हैं।


बैटरी चोरी करने वाले 3 गिरफ्तार

खड़े ट्रकों से बैटरी चोरी करने वाले तीन शातिर चोरों को पुलिस ने किया गिरफ्तार
  
अतुल त्यागी जिला प्रभारी, मुकेश सैनी देहात रिपोर्टर, रिँकू सैनी हापुड़ रिपोर्टर, प्रवीण कुमार पिलखुआ


हापुड़। थाना कोतवाली पिलखुआ  पुलिस को मिली बड़ी सफलता कोतवाली पुलिस ने तीन शातिर चोरों को किया गिरफ्तार जिनके कब्जे से 10 बैटरी व एक मोटरसाइकिल एफ जैड बरामद साथ ही 500 ग्राम चरस भी बरामद।  थाना पिलखुवा क्षेत्र के छिजारसी पुलिस चौकी के उपनिरीक्षक हरेंद्र सिंह को सूचना मिली कि कुछ बदमाश एनसीआर पेट्रोल पंप के पास चोरी की बैटरी ले जा रहे हैं तत्काल उप निरीक्षक द्वारा अपने साथियों के साथ घेराबंदी कर बदमाशों को गिरफ्तार किया गया जिनके कब्जे से 10 बैटरी व एक चोरी की मोटरसाइकिल एफ जैड बिना नंबर बरामद की गई बदमाशों से 500 ग्राम चरस भी बरामद की गई। गहनता से पूछताछ करने पर उन्होंने बताया कि वे लोग लॉक डाउन के चलते सड़कों पर खड़े ट्रकों की बैटरी चोरी करते हैं तथा रात्रि में वह लोग मोटरसाइकिल आदि भी चोरी कर लेते हैं साथ ही साथ वे चरस की सप्लाई भी करते हैं। उनके द्वारा पहले भी एटीएम से चोरी करने की घटनाएं को अंजाम दिया गया हैं वह हाल ही में जेल से जमानत पर रिहा हुए थे। गिरफ्तार अभियुक्त प्रिंस पुत्र सुरेश निवासी लाखन थाना पिलखुवा, विकास उर्फ विक्की पुत्र बृजेश ग्राम गालन्द, शिवम पुत्र प्रेमपाल निवासी गालन्द थाना पिलखुआ के निवासी हैं इन लोगों पर पूर्व में भी अनेकों मुकदमे दर्ज हैं पुलिस द्वारा उचित कार्रवाई कर तीनों को जेल भेज दिया गया।


वायरस प्रकोप बढ़ा सकता है 'लॉकडाउन'

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील पर देश में 21 दिनों का लॉकडाउन है, जिसकी तारीख 14 अप्रैल को खत्म हो रही है। वहीं देश में बढ़ते जा रहे कोरोना प्रकोप के कारण राज्य सरकारों की लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने की राय पर गंभीरता से विचार कर रही है, जिसमें लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ाया जा सकता है। 


सरकारी सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक कई राज्यों के अनुरोध के बाद केंद्र सरकार इसकी समय अप्रैल अंत तक के लिए बढ़ा सकती है। इसको लेकर प्रधानमंत्री जल्द घोषणा कर सकते हैं। केंद्र सरकार के सूत्रों की माने तो कई राज्यों के अनुरोध के बाद केंद्र सरकार लॉकडाउन बढ़ाने पर विचार कर रही है।  इससे पहले कोरोना महामारी और लॉकडाउन के ताजा हालात पर केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के आवास पर मंत्री समूह की बैठक हुई। इस बैठक में भी लॉकडाउन की समय सीमा को लेकर चर्चा हुई। मंत्रियों का मानना था कि अगर हम लॉकडाउन हटाते भी हैं तो लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाए रखना होगा। जबकि ट्रेन और बस सेवा को सामान्य नहीं किया जाएगा और हवाई सेवाओं को भी फिलहाल बंद ही रखा जा सकता है। इस बैठक में जो निष्कर्ष सामने आया है उसकी जानकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दे दी गई है ,जो विशेषज्ञों से भी इस बाबत चर्चा कर रहे हैं, लेकिन ऐसी संभावनाएं बढ़ गई हैं कि पीएम मोदी जल्द ही लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने का निर्णय लेकर ऐलान कर सकते हैं। वहीं एक दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यस से कैबिनेट की बैठक हुई। इस बैठक के बाद जब केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से पूछा गया कि क्या 15 अप्रैल से देश में लॉकडाउन हट जाएगा, तो उन्होंने कहा कि देशहित में जो भी फैसला होगा, वह सही समय पर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम वैश्विक स्थित पर भी लगातार नजर बनाए हुए हैं। वहीं, देश के कुछ राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने लॉकडाउन को लेकर अपनी स्थिति स्पष्ट की है। उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना व महाराष्ट्र सरकार ने भी केंद्र सरकार को लॉकडाउन बढ़ाने पर विचार करने को कहा है।


सोनिया गांधी ने पीएम नरेंद्र मोदी को दिए पांच सुझाव 
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दो पेज का एक पत्र लिखकर कोरोना से लड़ाई में आगे सरकार को क्या करना चाहिए, इस पर पांच सुझाव दिए हैं। प्रधानमंत्री ने सोमवार को विपक्षी नेताओं से फोन पर बात करके उनसे सुझाव मांगे थे। सोनिया गांधी ने सांसदों का वेतन कम करने के फैसले का समर्थन करते हुए सरकार से विज्ञापन पर खर्च सीमित करने, सेंट्रल दिल्ली में नई संसद और दूसरे भवनों के निर्माण की योजना को टालने, सरकार के खर्चे में 30 परसेंट कटौती करके वो पैसे मजदूरों, किसानों को आर्थिक सुरक्षा देने, मंत्रियों और अधिकारियों की फिजूल विदेश यात्रा पर पीएम द्वारा रोक लगाने और पीएम केयर्स फंड में मिले पैसों को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में ट्रांसफर करने का सुझाव दिया है।


संपूर्ण लॉक डाउन, सभी गतिविधी अवरुद्ध

राणा ओबराय

मंत्रिमंडल की बैठक में लॉकडाउन को धीरे-धीरे खत्म करने के संकेत! स्कूल-कॉलेज, धार्मिक गतिविधियों पर 4 हफ्तों की रोक की सिफारिश!

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के चलते लागू लॉकडाउन को बढ़ाने को लेकर हो रही चर्चा के बीच मंत्रियों के एक समूह ने सभी शैक्षणिक संस्थानों को 4 हफ्ते तक और बंद रखने का प्रस्ताव दिया है। साथ ही, इस दौरान, धार्मिक आयोजनों या धार्मिक गतिविधियों पर लगी रोक को भी जारी रखने की सिफारिश की हैं। सूत्रों ने कहा कि ये इस बात का संकेत हो सकता है कि सरकार लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करेगी। कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए सरकार ने 24 मार्च मध्यरात्रि से देश में लॉकडाउन लागू करने की घोषणा की थी। तीन हफ्ते के लिए मौजूदा लॉकडाउन की मियाद 14 अप्रैल को खत्म हो रही है।हालांकि, उत्तर प्रदेश समेत कई अन्य राज्यों में कोरोनावायरस के मामले बढ़ रहे हैं, जिसे देखते हुए कुछ राज्यों की ओर से लॉकडाउन की मियाद को बढ़ाने की मांग की गई है. सरकारी सूत्रों का कहना है कि केंद्र सरकार राज्यों के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। इस बीच, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सोमवार को कहा था कि “देशहित” में सही समय पर फैसला लिया जाएगा। सूत्रों ने कहा, “कोरोनावायरस मुद्दे पर मंगलवार को हुई अपनी चौथी बैठक में मंत्रियों ने सभी शैक्षणिक संस्थानों पर लागू बंदी को बढ़ाने की सिफारिश की है। गर्मियों की छुट्टी आमतौर पर मई के मध्य से शुरू हो जाती है।” इसके साथ ही उन्होंने धार्मिक केंद्र जैसी उन जगहों पर कड़ी निगरानी रखने की वकालत की है, जहां ज्यादा संख्या में लोग एकत्र होते हैं। ड्रोन के जरिए निगरानी बढ़ाने की भी सिफारिश की गई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह तय किया गया है कि धार्मिक केंद्र और शैक्षणिक संस्थानों के साथ शॉपिंग मॉल्स को भी कम से कम 4 हफ्तों के लिए सामान्य रूप से काम करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। इस बैठक में गृह मंत्री अमित शाह तथा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण भी मौजूद रहीं।


तनख्वाह-पेंशन को जमा कराना चाहिए

राणा ओबरा

हरियाणा के वर्तमान एवं भूतपूर्व सभी विधायकों को सीएम फण्ड में अपनी तनख्वाह व पेंशन का जमा कराना चाहिए तीसरा हिस्सा

चण्डीगढ़। देश में जिस कदर महामारी बढ़ती जा रही है उसको देखते हुए प्रदेश के सभी वर्तमान एवं पूर्व भूतपूर्व विधायकों को अपनी तनख्वाह व पेंशन की राशि में से तीसरा हिस्सा सीएम रिलीफ फंड में जमा कराना चाहिए। ऐसा पुण्य कार्य करने से मंत्रियों, पूर्व मंत्रियों,


नए विधायकों और भूतपूर्व विधायकों की कीर्ति व यश बढ़ेगा। बल्कि हरियाणा सरकार में फंड की कमी भी दूर होगी। इसकी शुरुआत प्रधानमंत्री के निर्देश पर देश के सभी संसद सदस्यों ने कर दी है। परंतु अभी तक हरियाणा के 1- 2 विधायकों ने ही सीएम रिलीफ फंड में अपनी तनख्वाह का 30% राशि देने की घोषणा करी है। बाकी के सभी विधायक एवं भूतपूर्व विधायक इतनी कंजूसी क्यों कर रहे है! ऐसा सुना जाता है। यदि कोई व्यक्ति एक बार विधायक बन जाता है तो उसके पास करोड़ों रुपए की संपत्ति आ जाती है! किस तरह से आती है कहां से आती है यह आज तक भी कोई नहीं जान पाया है। यदि एक विधायक 5 वर्ष के कार्यकाल में बिना किसी उद्योग, बिना किसी व्यापार, खेती-बाड़ी के करोड़ों रुपए का स्वामी बन जाता है! तो ऐसी वैश्विक महामारी के चलते उसको अपना दायित्व निभाते हुए एक बड़े हिस्से की राशि का कुछ भाग सरकार के सीएम रिलीफ फंड में जमा कराना चाहिए। ऐसे धनाढ्य व्यक्ति भी जो नेता बनने के लिए राजनीति में आकर सिर्फ टिकट पाने के लिए लाखों करोड़ों रुपए का दान राजनीतिक पार्टी फंड में देते हैं। ऐसे नेता यदि वास्तविक जनता के नेता बनना चाहते हैं तो उनको इस भयंकर महामारी के चलते प्रदेश सरकार की सहायता करनी चाहिए। जिससे वे जनता की नजरों में हीरो बन सके। जनता प्रभावित होकर खुद ब खुद उनको विधायक या सांसद बना देगी। इसलिए देरी न करते हुए प्रदेश के सभी मंत्रियों,पूर्व मंत्रियों, विधायकों एवं पूर्व विधायकों को शीघ्र रूप से पुण्य कार्य की शुरुआत करते हुए अपनी कमाई का कुछ हिस्सा सरकार की सहायता के रूप में तुरंत देना चाहिए। ताकि हरियाणा सरकार प्रदेश में फैली इस महामारी का युद्ध स्तर से मुकाबला कर सकें।


कार के टायर पर किया हाथ साफ

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर पिलखुआ


लॉक डाउन में भी चोरों के हौसले बुलंद चोरों को नहीं है साशन व प्रसाशन का कोई डर नही, शिवपुरी में घर के बाहर खड़ी कार से टायरों पर किया हाथ साफ


हापुड़। सिटी कोतवाली नगर क्षेत्र का मामला,हापुड़ शहर शिवपुरी में चोर ने घर के बाहर खड़ी सेंट्रो कार में किया हाथ साफ,गाड़ी के टायरों पर किया हाथ साफ,शिवपुरी क्षेत्र में पूर्व शहर कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश शर्मा जी, की खड़ी संट्रो कार मंगलवार की रात को चोरों ने किया हाथ साफ,सेंट्रो गाड़ी के पिछले के दो टायरों को खोलर हुए चोर फरार ,सुबह देख दी पुलिस को सूचना,सूचना मिलते ही क्षेत्रीय पुलिस मौके पर। घर के बाहर लगे सीसीटीवी फुटेज के आधर पर की जा रही है। जाँच पड़ताल,देर रात दो बजे के लगभग दिया घटना को अंजाम,हैरत की बात ये है कि इस वक़्त लॉकडॉउन है। घरों से निकलने पर सख्ती है। गली गली पुलिस का कड़ा पहरा है। लेकिन फिर भी एक कार में बैठ कुछ लोग रात में सड़क पर निकलते हैं और चोरी कि वारदात को अंजाम देते हैं। ये पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह लगाता है। ये वारदात शिवपुरी की मेन रोड पर होती है,आधे घंटे तक चोर वहां रहते हैं और टायर निकाल कर फरार हो जाते है जबकि रात में भी पुलिस यहां पेट्रोलिंग करती है उसके बावजूद अगर चोर इस तरह की वारदात को अंजाम देते हैं।


कैसे निकलेंगे समंदर में फंसे लोग ?

नई दिल्‍ली। वैश्विक व्यापार का एक बहुत बड़ा हिस्सा समंदर के रास्ते होता है और समुद्री जहाज़ों पर काम करने वाले लोग कितनी मेहनत करते हैं, इसका अंदाज़ा ज़मीन पर रहने वाले लोग कम ही लगा पाते हैं। मर्चेंट नेवी के हजारों कर्मचारी इस समय अपने जहाजों पर हैं और वो कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से दुनिया भर में जारी लॉकडाउन से जूझ रहे हैं। ये लोग इतने बड़े खतरे का सामना करते हुए भी दुनिया की ज़रूरतें पूरी करने में जुटे हैं। एक आंकलन के अनुसार तकरीबन 40 हज़ार लोग इस समय दुनिया भर में फैले उन समुद्री जहाज़ों पर फंसे हुए हैं जो भारत के सागर तटों तक पहुंचने का इंतज़ार कर रहे हैं।


वैसे तो शिपिंग इंडस्ट्री और उसमें काम करने वाले लोगों के संगठनों को भारत सरकार ने इनकी हर संभव मदद का भरोसा दिलाया है, पर जमीनी सच्‍चाई इसके काफी विपरीत है। सूत्रों के अनुसार एम.वी एपीजे अंगद 2 नामक एक जहाज जो कि एप्पीजे सिप्पिंग नामक एक भारतीय कम्‍पनी का है और आगामी 12 अप्रैल 2020 को कृष्णा पिटरम पोर्ट आंध्र प्रदेश पर पहुंचेगा। उक्‍त जहाज से कुछ भारतीय कर्मचारियों को यहां साइन ऑफ करना है, परन्‍तु स्‍थानीय एजेन्‍सी के प्रतिनिधि वेणुगोपाल का कहना है कि पोर्ट के हेल्‍थ अफसर वेनकटा रामायण (फोन नम्‍बर - 09440930229) यहां पर नाविकों को उतरने की परमीशन नहीं दे रहे हैं। इससे उक्‍त शिप के नाविकों में भय का माहौल है और नाविकाें के परिजन भी बेहद डरे हुये हैं। शिप के कई कर्मचारियों का कॉन्‍ट्रैक्‍ट भी खत्‍म हो गया है और अब घर जाने का भी कोई भरोसा नहीं है। ये तो केवल एक जहाज का हाल है सूत्रों की माने तो लगभग 40 हज़ार भारतीय नाविक अपना अनुबंध ख़त्म होने के बाद घर वापसी का इंतज़ार कर रहे हैं। सरकार ने इनको कथित भरोसा दिलाया है कि लॉकडाउन हटने के बाद वे सुरक्षित घर वापस लौट सकेंगे. हालांकि भारत वापस लौटने पर इन नाविकों को कोरोना टेस्ट कराना होगा और क्वारंटाइन की प्रक्रिया से गुज़रना होगा। लॉकडाउन की वजह से इन Seafarers पर गहरा असर पड़ा है। लोग यहां फंस चुके हैं। घर नहीं जा सकते हैं क्योंकि सारे एयरपोर्ट्स बंद हैं. नौ-दस महीने घर से दूर रहकर ये लोग यहां दिन-रात काम करते हैं। इस लॉकडाउन की वजह से जिनका समय पूरा हो चुका है, वे भी घर नहीं जा पा रहे हैं। कुछ शिपिंग कंपनियां इनकी ज़िम्मेदारी तो उठा रही हैं लेकिन तस्वीर का दूसरा पहलू ये भी है कि कॉन्ट्रैक्ट ख़त्म होने के बाद की अवधि के लिए इन नाविकों को सैलरी नहीं मिल रही है। हालांकि कुछ कंपनियों ने अनुबंध की अवधि बढ़ाई भी है। इन नाविकाें के घरवालों का बुरा हाल है, तमाम नाविकाें के घर पर अकेली महिलायें हैं जो घर के साथ साथ बच्‍चों की भी जिम्‍मेदारी उठा रही हैं और इस भययुक्‍त माहौल में ये नयी टेन्‍शन भी सर पर आ गयी है। अब देखना ये है कि माेदी सरकार इस प्रकरण में क्‍या कार्यवाही करती है।


ढाई हजार बोगियां आइसोलेशन बदली

नई दिल्ली/रायपुर। कोविड 19 से पार पाने के प्रयासों में सहयोग देने भारतीय रेलवे ने अपनी पूरी ताकत और संसाधन लगा दिए हैं। इतने कम समय में 5,000 कोच को आइसोलेशन (एकांत) कोच में तब्दील करने के शुरुआती लक्ष्य में मंगलवार की स्थिति में 2500 कोच को आइसोलेशन बोगियों कर दिया गया है। यानी लक्ष्य का आधा रेलवे ने हासिल कर लिया है। इसी तरह रायपुर रेल मंडल ने लक्ष्य 50 कोच का आधे से अधिक 30 आइसोलेशन कोच तैयार कर दिया है। लॉक डाउन के दौरान कार्यबल संबंधी संसाधन सीमित बने हुए हैं और उनका समझ-बूझ से इस्तेमाल किया जाना जरूरी है। ऐसे में रेलवे के विभिन्न मंडल कार्यालयों ने इतने कम समय में असंभव से लग रहे इस कार्य का आधा लक्ष्य हासिल कर लिया है। लगभग 2,500 कोचों में बदलाव के साथ अब 4,000 आइसोलेशन बेड आपात स्थिति के लिए तैयार हैं।


रेलवे ने आपात स्थिति से निपटने आइसोलेशन कोच तैयार कर आधा लक्ष्य किया हासिल, हजारों बिस्तर भी तैयार  
बता दें कि एक तैयार कोच को मंजूरी मिलते ही,मंडल रेलवे कार्यालयों ने तेजी से बदलाव का काम शुरू कर दिया था। भारतीय रेलवे के रोजाना औसतन 375 कोचों में बदलाव किया जा रहा है। देश के 133 स्थानों पर यह काम किया जा रहा है। पूर्व में जारी किए गए चिकित्सा परामर्शों के तहत इन कोचों में सभी सुविधाएं हैं। जरुरतों और नियमों के तहत सर्वश्रेष्ठ विश्राम और चिकित्सा निगरानी तय करने के प्रयास किए जा रहे हैं। उल्लेखनीय है कि कोविड 19 के खिलाफ लड़ाई में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से किए जा रहे प्रयासों के पूरक के तौर पर इन आइसोलेशन कोचों को सिर्फ आपात स्थिति के लिए तैयार किया जा रहा है।


स्थिति सुधरने पर खेला जाएगा आईपीएल

नई दिल्ली। पूरा विश्व कप इस वक्त कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से परेशानी में घिर गया है। तमाम बड़े देशों में लॉकडाउन की स्थिति है और इसमें भारत भी शामिल है। कोरोना महामारी की वजह से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने भी इंडियन प्रीमियर लीग को स्थगित कर दिया है। 14 अप्रैल को भारत में लॉकडाउन खत्म हो रहा है इसके बाद ही इसके आयोजन पर कोई फैसला हो पाएगा।


चेन्नई सुपर किंग्स की तरफ से खेलने वाले स्पिनर हरभजन सिंह ने इस साल के होने वाले आईपीएल के आयोजन पर अपनी राय दी है। आईपीएल के मैचों का प्रसारण करने वाले चैनल स्टार स्पोर्ट्स के नए शो क्रिकेट कनेक्टेंड पर बात करते हुए उन्होंने अपना राय दी। उन्होंने बताया कि कैसा आईपीएल का आयोजन कराया जा सकता है और इसको कराने के लिए क्या- क्या तैयारी करनी पड़ेगी।


भज्जी ने बताया, “दर्शक सबसे ज्यादा अहम हैं, लेकिन स्थिति ऐसी होती है तो मुझे इससे कोई दिक्कत नहीं अगर बिना दर्शकों के मैच का आयोजन होता है। हां, एक खिलाड़ी के तौर पर मुझे वो चीज नहीं मिल पाएगी लेकिन इससे यह तो पक्का हो जाएगा कि दर्शकों को घर पर बैठे टीवी पर आईपीएल देखने का मजा मिल पाएगा।”


“हमें हर एक चीज को लेकर बहुत ज्यादा सावधान रहने की जरूरत होगी। खिलाड़ियों की सुरक्षा को प्राथमिकता देनी होगी। यह तय करना होगा कि वो जगह जहां मुकाबलों को खेला जाएगा, हो होटल और फ्लाइट्स अच्छे से लेनेटाइज हों। बहुत सारी जिंदगी इस वक्त ऑनलाइन है लिहाजा हमें आईपीएल का आयोजन कराना चाहिए लेकिन तब जब कि सबकुछ ठीक हो जाता है।”


“मैं मैच खेलना बहुत मिल करता हूं, उम्मीद करता हूं कि एक साल के अंतराल के बाद मैं 17 मैच (आईपीएल फाइनल मिलाकर) खेल पाउंगा। मैं मैदान पर जाने को बहुत मिस करता हूं, दर्शकों का हुजुम हमारे लिए शोर मचाकर अभिवादन करने के लिए इंतजार कर रहा है। वो बाइक जो हमारी टीम बस के साथ चलता था मुझे यकीन है वो भी इन सभी चीजों को मिस करता होगा। मुझे उम्मीद है आईपीएल जल्दी ही शुरू हो, तब तक तो मैं अपने आप को फिट रखूंगा।”


चीनः वुहान में पटरी पर लौटी जिंदगी

बीजिंग। चीन का वुहान जहां से कोरोना वायरस महामारी शुरू हुई और पूरी दुनिया में फैल गई, वहां 11 हफ्ते के बाद लॉकडाउन खत्म हो गया है। वुहान में लॉकडाउन को देखते हुए ही दुनिया के कई देशों ने इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन का यही मॉडल अपनाया था।अधिकारियों ने वुहान के लोगों को बाहर आने जाने की इजाजत दे दी है।


मध्य रात्रि से लॉकडाउन खत्म होने के बाद शहर के 1.1 करोड़ लोगों को अब कहीं भी आने-जाने के लिए विशेष अनुमति की जरूरत नहीं होगी बशर्ते अनिवार्य स्मार्ट फोन एप्लिकेशन में यह पता चलता हो कि वे स्वस्थ हैं और किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में नहीं आए हैं। इस मौके पर यांगतेज नदी के दोनों ओर लाइट शो हुआ, गगनचुंबी इमारतों और पुलों पर ऐसी छवियां तैर रहीं थीं जिनमें स्वास्थ्यकर्मी मरीजों को ले जाते हुए दिख रहे थे, तो कहीं वुहान के लिए ‘हीरोइक सिटी’ शब्द दिख रहे थे। तटबंधों और पुलों पर नागरिक झंडे लहरा रहे थे और ‘वुहान आगे बढ़ो’ के नारे लगा रहे थे तथा चीन का राष्ट्रगान गा रहे थे। एक व्यक्ति तोंग झेंगकुन ने कहा, ‘मुझे बाहर निकले को 70 दिन से भी ज्यादा वक्त हो गया। वह जिस इमारत में रहते थे वहां संक्रमित व्यक्ति मिले थे जिसके बाद से पूरी इमारत को बंद कर दिया गया था।’ सड़कों पर गाड़ियां उतर आईं, सैकड़ों लोग शहर से बाहर जाने के लिए ट्रेनों और विमानों का इंतजार करते दिखे तो कई लोग नौकरी पर जाने को बेताब नजर आए। सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ने इतनी जल्दी जश्न मनाने के खिलाफ चेतावनी दी है।


चीन के कुल 82 हजार कोरोना संक्रमितों में से 50 हजार केवल वुहान के थे। कुल 3331 मरने वालों में से 2500 वुहान में ही मरे। वुहान ही वह शहर है, जहां पिछले साल दिसंबर में कोराना वायरस से संक्रमित पहला व्यक्ति मिला था। वुहान सहित पूरे हुबेई प्रांत में करीब 5.6 करोड़ लोग रहते हैं।


विरोध के बाद ट्रंप के बदले सुर

वाश‍िंगटन। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा के निर्यात को मंजूरी देने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को महान नेता बताया है। ट्रंप ने कहा कि पीएम मोदी महान हैं और बहुत अच्‍छे हैं। कोरोना वायरस की मार से बेहाल अमेरिका के राष्‍ट्रपति ने कहा कि अमेरिका ने 29 मिलियन दवा की डोज खरीदी है। इसमें से ज्‍यादातर दवा भारत से मिलेगी। अमेरिकी राष्‍ट्रपति ने फॉक्‍स न्‍यूज से बातचीत में कहा कि भारत ने अपने नागरिकों को बचाने के लिए दवा के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया था। उन्‍होंने कहा कि पीएम मोदी महान हैं और बहुत अच्‍छे हैं। भारत से अभी बहुत अच्‍छी चीजें आनी बाकी हैं। उन्‍होंने कहा कि अमेरिका ने कोरोना वायरस से जंग के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की 29 मिलियन डोज खरीदी है। इसमें से बड़ी तादाद में दवा भारत से आएगी।


इससे पहले ट्रंप ने संकेत दिया है कि अगर भारत ने हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा के निर्यात पर से प्रतिबंध नहीं हटाया तो अमेरिका कार्रवाई पर विचार कर सकता है। हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का इस्‍तेमाल कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज में किया जा रहा है। इससे पहले ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस दवा के लिए गुहार लगाई थी। व्‍हाइट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत में ट्रंप ने कहा था कि भारत ने अमेरिका के साथ बहुत अच्‍छा व्‍यवहार किया है और मैं समझता हूं कि इस बात के कोई कारण नहीं हैं कि भारत अमेरिकी दवा के ऑर्डर पर से बैन नहीं हटाएगा। ट्रंप ने कहा, ‘मैंने यह नहीं कहीं सुना कि यह उनका (पीएम मोदी) का फैसला था। मैं जानता हूं कि उन्‍होंने इस दवा को अन्‍य देशों के निर्यात के लिए रोक लगाई है। मैंने उनसे कल बात की थी। हमारी बातचीत बहुत अच्‍छी रही। भारत ने अमेरिका के साथ बहुत अच्‍छा व्‍यवहार किया है।’


भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इसके बाद उठे विवाद पर कहा कि यह किसी भी सरकार का दायित्व होता है कि पहले वह सुनिश्चित करे कि उसके अपने लोगों के पास दवा या इलाज के हर जरूरी संसाधन उपलब्ध हों। इसी के मद्देनजर शुरू में कुछ एहतियाती कदम उठाए गए थे और कुछ दवाओं के निर्यात को प्रतिबंधित किया गया था। भारत ने सोमवार को 14 दवाओं पर लगे प्रतिबंध को हटा दिया है। हालांकि पैरासिटामोल और हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा लाइसेंस कैटेगरी में रहेगी और उसकी मांग पर लगातार नजर रखी जाएगी। लेकिन अगर मांग के अनुरूप आपूर्ति रही तो फिर कुछ हद तक निर्यात की अनुमति दी जा सकती है।


विदेश मंत्रालय ने यह भी कहा कि कोरोनावायरस महामारी के समय भारत ने हमेशा कहा है कि ऐसे कठिन हालात में पूरे विश्व को एक होकर इससे लड़ना होगा। इसमें मानवीय पहलू के बारे में भी सोचना होगा। भारत ने कहा कि वह इन दवाओं को उन जरूरतमंद देशों को भी भेजेगा जो इस बीमारी से सबसे अधिक ग्रसित हैं। विदश मंत्रालय ने कहा कि ऐसे कठिन परिस्थिति में किसी तरह के अनर्गल विवाद को खड़ा नहीं किया जाना चाहिए।


मिल गया मौलाना साद, जांच जारी

नई दिल्‍ली। मार्च के दूसरे हफ्ते में निजामुद्दीन इलाके में तबलीगी जमात के धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन करने वाले मौलाना साद का पता चल गया है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक मौलाना साद जाकिर नगर वाले अपने घर में क्‍वारंटीन है। मौलाना साद ने ही विरोध के बावजूद उस धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया जिसमें हजारों लोगों ने हिस्‍सा लिया। नतीजतन देश में अचानक कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैला। आंकड़ों के मुताबिक अब तक देश में कोरोना के जितने भी मामले सामने आए हैं, उनमें तकरीबन 30 प्रतिशत लोग तबलीगी जमात से जुड़े हैं।


उस कार्यक्रम में शामिल होने वाले कई लोगों की मौत हो गई है। हजारों लोगों को क्‍वारंटाइन करना पड़ा है। यह भी पता चला है कि कई विदेशी नागरिक टूरिस्‍ट वीजा पर यहां आते थे और जमात के धार्मिक कार्यक्रम में हिस्‍सा लेते थे। ऐसे सैकड़ों विदेशी लोगों को ब्‍लैकलिस्‍ट कर उनके वीजा को रद्द कर दिया गया है। देश में अब तक 1445 कोरोना संक्रमित मरीज तबलीगी जमात के पाए गए हैं. पिछले 24 घंटे में दिल्ली में 20 नए कोरोना के केस आए हैं। इन 20 में से 10 मरकज के हैं। मौलाना साद पर कई गंभीर आरोप लगे हैं। साद के खिलाफ मामला दर्ज करने के बाद दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच जांच कर रही है। दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने 26 सवालों की लिस्ट तैयार करके मौलाना साद के घर पर भेजी है. इसमें जानकारी मांगी गई है कि किस तरह इस मरकज में लोग आ रहे थे। जनवरी से लेकर अब तक कितने लोग आए हैं। किस तरह से मरकज का आयोजन होता था?


इस बीच सूत्रों के हवाले से जानकारी मिल रही है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए कई मुस्लिम नेताओं ने तबलीगी जमात के कार्यक्रम को निरस्त करने की सलाह दी थी। सूत्रों का कहना है कि कई इस्लामिक स्कॉलर और धर्मगुरुओं ने भी मौलाना साद से कार्यक्रम को टाल देने का आग्रह किया था। इस पूरे कार्यक्रम को लेकर तबलीगी जमात दो गुटों में बंटा हुआ था, एक गुट ने इस कार्यक्रम को टाल दिया था। लेकिन मौलाना साद अपनी जिद पर अड़ा रहा और निजामुद्दीन मरकज में धार्मिक कार्यक्रम किया।


शिवलिंग क्षतिग्रस्त, संप्रदायिकता की कोशिश

बहराइच। कुछ अराजक तत्वों ने शिवलिंग को क्षतिग्रस्त कर दिया। मंदिर में मांस का टुकड़ा फेंक कर माहौल को बिगाड़ने की कोशिश की। पुलिस व प्रशासन की सतर्कता से माहौल बिगड़ने से बचा। इस मामले में दो ग्रामीणों की तहरीर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मौके पर भारी पुलिस बल भी तैनात किया गया है। एसडीएम, एएसपी व सीओ मौके पर कैंप किए हुए हैं।मामला कोतवाली नानपारा क्षेत्र के लखैया गांव का। यहां के निवासी पंकज सोनी के घर के पास मंदिर बना हुआ है। थोड़ी दूर पर ही एक और राधा-कृष्ण का मंदिर है।
बताया जा रहा है कि अराजक तत्वों ने शिवलिंग को क्षतिग्रस्त कर उसे कुएं में फेंक दिया। यही नहीं राधा-कृष्ण के मंदिर में प्रतिमा को क्षतिग्रस्त कर मांस का टुकड़ा फेंक दिया। घटना की जानकारी मंगलवार सुबह ग्रामीणों को हुई तो आक्रोश फैल गया। सूचना मिलते ही एसपी विपिन कुमार मिश्र ने एएसपी रवींद्र सिंह समेत भारी पुलिस बल मौके पर भेजा। पुलिस ने तत्काल क्षतिग्रस्त शिवलिंग को सही कराया। मंदिर में पड़े मांस के टुकड़ों को हटवाकर साफ-सफाई कराई। इसके बाद ग्रामीणों का आक्रोश शांत हुआ। मौके पर एसडीएम रामआसरे, सीओ अरुण कुमार, कोतवाली ओपी चौहान समेत भारी पुलिस बल मौजूद है।एसपी ने बताया कि मामले में गांव निवासी पंकज व मायाराम की तहरीर पर अलग-अलग दो मुकदमे अज्ञात लोगों के खिलाफ दर्ज किए गए हैं। उन्होंने कहा कि सद्भाव बिगाड़ने वालों को चिह्नित कर सख्त कार्रवाई की जाएगी। भले ही वह कितना रसूखदार क्यों न हो।


कैबिनेट की राय,15 मई तक बंद

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से निपटने के लिए देशभर में लागू लॉकडाउन की अवधि खत्म होने वाली है। ऐसे में सरकार और आम लोगों में चर्चा शुरू हो गई है कि आगे क्या होगा। इस बारे में कैबिनेट ने अपनी राय बना ली है।
कोरोना वायरस से निपटने के लिए सरकार द्वारा गठित मंत्रियों के समूह यानि ग्रुप आफ मिनिस्टर्स ने एक सुर में सरकार से 15 मई तक सभी शैक्षणिक संस्थाओं को बंद रखने और सभी धार्मिक गतिविधियों को स्थगित रखने की सिफारिश की है। मंत्रियों के समूह ने एक सुर में कहा कि सरकार भले ही लॉकडाउन पीरियड को आगे ना बढ़ाए लेकिन सभी तरह की शैक्षणिक और धार्मिक गतिविधियों पर 15 मई तक रोक लगानी चाहिए।


 प्रधानमंत्री ने भाजपा के वरिष्ठ नेता और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में मंत्रियों के समूह का गठन किया था जिसे कि इस बारे में सरकार को सलाह देनी थी। इस मंत्री समूह ने एकमत से तय किया कि धार्मिक केंद्रों, शापिंग मॉल और शौक्षणिक संस्थानों को 14 अप्रैल के बाद कम से कम चार सप्ताह तक सामान्य गतिविधि शुरू करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। अब इस बारे में अंतिम फैसला प्रधानमंत्री को करना है। इससे एक बात तो साफ हो गई की पाबंदियों का ये दौर लंबा चलने वाला है।


सामान्य से बड़ा होता है 'सुपरमून'

नई दिल्ली। बुधवार को खगोलशास्त्रियों और नासा के अनुसार, इस बार पूर्णिमा चांद सुपरमून होगा। यानी सामान्य से कुछ बड़ा चांद। ऐसा भी कहा जा रहा है कि 8 अप्रैल को दिखने वाला चांद गुलाबी रंग का होगा। लेकिन आपको बता दें कि चांद गुलाबी रंग का नहीं होता बल्कि हल्की लालिमा लिए और कुछ चमकीला होता है। चंद्रमा का चमकीला दिखने का रहस्य यह है कि चांद की चमक सूर्य की स्थिति और पृथ्वी से दूरी पर निर्भर करता है। माना जा रहा है कि नासा इसका लाइव प्रसारण भी कर सकता है। हालांकि, इस खगोलीय घटना को भारत के लोग आसमान में नहीं देख पाएंगे, क्योंकि यह सुबह 8 बजकर 5 मिनट में नजर आएगा।


पंजाब में लॉक डाउन के बाद भी कर्फ्यू

राजेश शर्मा


चंडीगढ़। देश में लाक डाउन बढ़े या ना बढ़े पर पंजाब के सीएम कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने इसकी तारीख़ को पंजाब में बढ़ा दिया है। कैप्टन ने कोरोना वायरस के पंजाब में बढ़ते प्रकोप को देखते हुए कर्फ़्यू को 30 अप्रैल तक कर दिया गया है। कैप्टन ने साफ़ कर दिया कि बढ़ाए गए कर्फ़्यू में अब किसी प्रकार की लोगो को दी ढील में लापरवाही नही बरती जाएगी। उनहोने कहा कि घरों में रहकर ही सेफ़ है अगर कोई कर्फ़्यू नियमों को तोड़ते पाया गया तो प्रशासन सख़्त होगा।


वही आदेश जारी करने के कुछ समय बाद ही पंजाब सरकार ने फ़ैसला वापिस ले लिया है। फिलहाल कर्फ़्यू की तारीख़ लाक डाउन तक रहेगी।


पूर्ण बंदी में जन स्वास्थ्य को प्राथमिकता

नई दिल्ली। आज जब देश का नेतृत्व कोरोना के कारण हुई तीन सप्ताह की देश व्यापी बंदी के बाद, अर्थव्यव्स्था को पुन: पटरी पर लाने के रास्तों पर विचार कर रहा है, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने आग्रह किया कि बंदी के बाद भी जन स्वास्थ्य को आर्थिक स्थिरता की तुलना में प्राथमिकता दी जाएगी।


आज पूर्ण बंदी के दो सप्ताह बाद अपने विश्लेषण में नायडू ने विचार व्यक्त किया कि आने वाला तीसरा सप्ताह पूर्ण बंदी के बारे में सरकार द्वारा निर्णय लेने के लिए महत्वपूर्ण होगा। उन्होंने कहा कि इस संक्रमण के प्रसार के आंकड़े और इसके प्रसार की गति, पूर्ण बंदी से निकालने के किसी भी निर्णय को प्रभावित करेंगे। पूर्ण बंदी को खोलने के विषय में प्रधान मंत्री तथा राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बीच हुए विचार विमर्श का जि़क्र करते हुए नायडू ने लोगों से आग्रह किया कि वे यदि 14 अप्रैल के बाद भी सरकार जो भी निर्णय ले जिससे कुछ कठिनाई हो, तो भी वे सरकार के निर्णयों को अपना समर्थन देते रहें। उन्होंने आशा व्यक्त की कि सरकारें वस्तुओं की सुचारू आपूर्ति सुनिश्चित करेंगी तथा दुर्बल वर्गों को पर्याप्त राहत और सहायता पहुंचाई जाएगी।


22 मार्च को जनता कर्फ्यू या 25 मार्च से जारी बंदी या फिर 5 अप्रैल को दीप प्रज्वलन को प्राप्त व्यापक जन समर्थन की चर्चा करते हुए, नायडू ने कहा कि यह भारतीय परम्परा में निहित अध्यात्मिकता के गुणों को प्रतिलक्षित करता है। उन्होंने कहा कि अध्यात्मिकता का अर्थ ही वृहत्तर समाज के हित के लिए स्वार्थ का शमन करना है और इस कठिन घड़ी में देशवासियों ने अपने इस संस्कारगत आध्यात्मिक चरित्र को दिखाया है जिससे इस संकट से उबरने में सहायता मिलेगी। राजधानी में हुए तबलीगी जमात तथा देश व्यापी अभियान की सफलता पर उसके प्रभाव के बारे में नायडू ने कहा कि यह घटना एक अपवाद थी जिससे दूसरों को भी सबक लेना चाहिए।
उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आग्रह किया कि वे भविष्य में ऐसी किसी भी आपदा से पहले इस अनुभव से सही सीख ले और संस्थागत, इंफ्रास्ट्रक्चर संबंधी, सूचनाओं के आदान प्रदान संबंधी,  अंतरराष्ट्रीय सहयोग और निजी स्तर पर प्रयास संबंधी, सभी कमियों को दूर करे।


अनुमति मिलने पर बटेंंगी राहत सामग्री

नैनीताल। जनपद में समाज सेवियों एवं संगठनों को खाद्यान्न एवं पका-पकाया भोजन वितरित करने के लिए प्रशासन से अनुमति लेनी होगी। इसके लिए उन्हें निर्धारित प्रपत्र पर आवेदन करना होगा। इसके बाद ही उन्हें नगर मजिस्टेªट या संबंधित एसडीएम से ऐसा करने की अनुमति दी जाएगी। उसके उपरान्त ही कोई समाज सेवी संगठन या गैर सरकारी संगठन खाद्य समाग्री का वितरण कर पायेंगे।
डीएम सविन बंसल ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान असंगठित श्रमिकों को विभिन्न समाज सेवी संगठनों द्वारा खाद्यान एवं भोजन वितरण में अत्यधिक जन समूह के एकत्रित होने एवं इस कारण सोशल डिस्टेसिंग यानी जरूरी सामाजिक दूरी का अनुपालन नहीं होने की शिकायतें आ रही हैं। इससे संक्रमण का खतरा भी उत्पन्न हो रहा है। इसलिए नयी व्यवस्था की जा रही है। साथ ही डीएम बंसल ने कहा कि जिस समाज सेवी संगठन अथवा गैर सरकारी संगठनों को प्रशासन द्वारा पास जारी किये गये है वे निर्धारित तिथि एवं चिन्हित स्थल में ही पुलिस बल की मौजूदगी में ही घर पर जाकर खाद्यान एवं भोजन वितरित करेंगे। इसकी मॉनिटरिंग नगर मजिस्टेªट, उपजिलाधिकरी, अपर पुलिस अधीक्षक द्वारा की जाएगी। सामाजिक दूरी के मानकों का उल्लघन करने पर उनकी वितरण की अनुमति तत्काल निरस्त करते हुयें उनके विरूद्ध दंडात्मक कार्यवाही भी की जाएगी।


दरोगा पॉजिटिव, पुलिस कॉलोनी सील

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस के एक सब-इंस्पेक्टर की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई है। रिपोर्ट आते ही दिल्ली पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है। मामले के सामने आते ही उस कालकाजी पुलिस कालोनी को सील कर दिया गया है, जहां एएसआई रहता है।दक्षिण पूर्वी दिल्ली जिला के एक आला पुलिस अफसर ने बताया कि कोरोना पॉजिटिव एसएसआई की उम्र 49-50 साल के आसपास है। पीड़ित को फिलहाल अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में कोरोंटाइन किया गया है। जबकि पत्नी और बच्चों को घर में ही एहतियातन क्वारेंटीन कर दिया गया है। जिला पुलिस सूत्रों और कालकाजी पुलिस कालोनी में ही रहने वाले एक पुलिसकर्मी के मुताबिक, सहायक सब इंस्पेक्टर कई दिन से अवकाश पर था। उसे बुखार खांसी की शिकायत हुई थी। जब संदेह होने पर जांचें कराई गई तो दो दिन पहले ही रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव की निकली।


इस बारे में दिल्ली पुलिस मुख्यालय के आला अफसरों को भी बता दिया गया है। साथ ही एहतियातन कालकाजी पुलिस कालोनी को भी सील कर दिया गया है। जिला पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि, इस परेशानी की घड़ी में पूरा महकमा पीड़ित के साथ खड़ा है। हम लोग पीड़ित परिवार का पूरा ख्याल रख रहे हैं। कालकाजी थाना पुलिस सूत्रों के मुताबिक, कालोनी में आने जाने वालों पर फिलहाल पूर्ण पाबंदी रहेगी। कालोनी को स्वास्थ्य विभाग की टीमों की निगरानी में निरंतर सेनेटाइज भी कराया जा रहा है। सहायक सब इंस्पेक्टर फिलहाल दिल्ली पुलिस की ट्रैफिक यूनिट में तैनात बताया जाता है।


उद्धव की कुर्सी पर कोरोना का ग्रहण

मुंबई। कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है और भारत में महाराष्ट्र इस संक्रमण की सबसे ज्यादा चपेट में है। ऐसे में महाराष्ट्र में एक तरफ लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने के संकेत मिल रहे हैं, तो दूसरी ओर राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की कुर्सी पर संकट के बादल गहरा गए हैं। उद्धव महाराष्ट्र के किसी भी सदन के सदस्य नहीं हैं यानी न तो विधानसभा (एमएलए) और न ही विधान परिषद (एमएलसी) के सदस्य हैं। अब कोरोना के खतरों की वजह से महाराष्ट्र में एमलसी का होना वाला चुनाव टाल दिया गया है, जिसके चलते उद्धव के सामने सीएम पद को बचाए रखने की मुश्किल खड़ी हो गई है। दरअसल उद्धव ठाकरे ने 28 नवंबर, 2019 को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। संविधान की धारा 164 (4) के अनुसार उद्धव ठाकरे को 6 माह में राज्य के किसी सदन का सदस्य होना अनिवार्य है। ऐसे में उद्धव ठाकरे को अपनी मुख्यमंत्री की कुर्सी को बचाए रखने के लिए 28 मई से पहले विधानमंडल का सदस्य बनना जरूरी है।


उद्धव ठाकरे विधानसभा का सदस्य बनने के लिए उनकी पार्टी के किसी विधायक को अपने पद से त्यागपत्र देना होगा। इसके बाद फिर चुनाव आयोग को 29 मई से 45 दिन पहले उपचुनाव की घोषणा करनी होगी। महाराष्ट्र में शिवसेना के विधायकों की संख्या का जो आंकड़ा है, ऐसे में वो अपने किसी विधायक का इस्तीफा नहीं दिलाना चाहेंगे। दूसरा जरिया विधान परिषद की सदस्यता प्राप्त करने का है। इसके लिए चुनाव आयोग को सिर्फ 15 दिन पहले अधिसूचना जारी करनी होगी।


उत्तराखंड में लॉक डाउन बढ़ाने पर मुहर

देहरादून। जहाँ अभी कोरोना सक्रमण लगातार उत्तराखंड में बढ़ता ही जा रहा हैं ,वही कोरोना संकट के बीच आज उत्तराखंड कैबिनेट बैठक आयोजित की गई। बैठक में 6 बिंदुओं पर चर्चा की गई। इस दौरान प्रदेश में कोरोना की ताजा स्थितियों पर चर्चा की गई। शासकीय प्रवक्ता मदन कौशिक ने कैबिनेट के फैसलों की जानकारी दी।


राज्य सरकार केंद्र सरकार से लॉकडाउन को लेकर करेगी वार्ता। राज्य सरकार ने सारे निर्णय के सरकार पर छोड़ा। जमातियों के चलते राज्य में बढ़ने वाले मरीजों की संख्या को देखते हुए राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि वह भारत सरकार से लॉकडाउन को आगे बढ़ाने को लेकर वार्ता करेंगे।चर्चा के बाद यह तय किया गया है कि केंद्र सरकार को लाॅकडाउन बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है।


सबसे कम उम्र के संक्रमित की मौत

जामनगर। जहां एक तरफ पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना संक्रमण को  झेल रही है। वही  इस महामारी से भारत भी इस संक्रमण बीमारी से दूर नहीं है। विश्व स्वास्थ्य संगठन, डॉक्टर और विशेषज्ञ इस वायरस से बचने के लिए कई अलग-अलग सलाह दे रहे हैं और लोग उनका पालन भी कर रहे हैं।


इसी बीच एक खबर आई कि मंगलवार को गुजरात के जामनगर जिले में एक 14 महीने के नवजात की कोरोना सक्रमण से मौत हो गई। डॉक्टरों ने बताया कि बच्चे को बेहद गंभीर स्थिति में अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद बच्चे के शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। हालांकि बच्चे को वेंटिलेटर पर रखा गया था, लेकिन डॉक्टर उसे बचाने में असफल रहें। गुजरात में कोरोना वायरस से संक्रमित यह शिशु सबसे कम उम्र का मरीज था।


सोशल डिस्टेंसिंग पर सख्त डीएम शामली

साजिद खान / फरमान अली 


शामली। जिलाधिकारी शामली जसजीत ने बैंकों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग वह अन्य प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित कराए जाने के संबंध में लीड बैंक मैनेजर को निर्देशित करते हुए कहा कि कोरोनावायरस के दृष्टिगत सरकार द्वारा लाभार्थियों के बैंक खातों में धनराशि अन्तरित किए जाने के उपरांत खाताधारकों द्वारा अपने खाते से धनराशि आहरित किए जाने हेतु बैंकों से संपर्क किया जा रहा है।


जिसके चलते बैंक शाखाओं के सामने ग्राहकों की लंबी कतारें लग जाती है, जिस कारण बैंकों द्वारा सोशल डिस्टेंसिग का अनुपालन नहीं किया जा रहा है। जबकि वर्तमान परिदृश्य में यह अनिवार्य है।जिलाधिकारी ने लीड बैंक मैनेजर को यह भी निर्देश दिए कि प्रत्येक बैंक शाखा के बहार दो ग्राहकों के मध्य समुचित दूरी रखते हुए पेंट के माध्यम से गोल निशान(सर्किल) प्रदर्शित किया जाये।तथा बैंक के सुरक्षा गार्ड द्वारा ग्राहकों की लाइन सुव्यवस्थित रखा जाये।साथ ही बैंक कर्मचारियों को मास्क भी उपलब्ध कराये जाये। इसके अतिरिक्त उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि बैंक ग्राहकों के लिए हाथ धोने के साबुन व सैनिटाइजर की व्यवस्था भी सुनिश्चित कराई जाए। इसके अलावा बैंक शाखाओं की मांग/ आवश्यकतानुसार श्री शैलेन व्यास उपायुक्त स्वत:रोजगार शामली से संपर्क करके एन0जी0ओ0 समूहों द्वारा बनाए जा रहे हैं मास्क बैंकों को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें।


पुलिसकर्मियों का 50 लाख का बीमा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बड़ा फैसला लिया है। सरकार ने कोविड-19 के मद्देनजर राज्य में पुलिस कर्मियों के लिए 50 लाख रुपए के बीमा कवर का एलान किया है। प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (गृह और सूचना) अवनीश अवस्थी ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पुलिसकर्मियों को 50 लाख का इंश्योरेंस दिए जाने के आदेश दिए हैं। कोरोना से जंग लड़ रहे उत्तर प्रदेश के पुलिस कर्मियों के लिए योगी सरकार ने 50 लाख का इंश्योरेंस करने का फैसला लिया है। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि पुलिसकर्मियों का 50 लाख रुपए का बीमा कराया जाए। जल्द ही इस संबंध में आदेश जारी किए जाएंगे। इससे पहले, पंजाब सरकार ने पुलिसकर्मियों और स्वच्छता कर्मचारियों को 50 लाख का अतिरिक्त स्वास्थ्य बीमा देने की घोषणा की थी।


लॉक डाउन पर विपक्ष से बातचीत

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये देश के विपक्षी नेताओं के साथ मीटिंग की। इसमें देश में कोरोना वायरस के बढ़ते केसों के मद्देनजर इस महामारी से बचाव के उपायों और लॉकडाउन (Lockdown)के मुद्दे पर चर्चा की गई। गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से प्रभावित लोगों की संख्‍या बढ़कर पांच हजार के पार पहुंच गई है। वीडियो लिंक के जरिये पिछले कुछ दिनों की गई मीटिंग के सिलसिले को बढ़ाते हुए पीएम ने बुधवार को विपक्षी नेताओं से बातचीत की।


वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग में जो नेता शामिल हुए, उसमें कांग्रेस के गुलाम नबी आजाद, तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंधोपाध्‍याय, शिवसेना के संजय राउल, समाजवादी पार्टी के राममोपाल यादव, बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा, लोक जनशक्ति पार्टी के चिराग पासवान, एनसीपी नेता शरद पवार और डीएमके नेता टीआर बालू शामिल थे, इसमें लोक जनशक्ति पार्टी  एनडीए का हिस्‍सा है।  


गौरतलब है कि देश में कोरोना से बचाव के लिए इस समय 14 अप्रैल तक का लॉकडाउन जारी है। ऐसे समय जब देश में कोरोना के केसों की संख्‍या में इजाफा हुआ है, लॉकडाउन की अवधि बढ़ाने पर विचार हो रहा है। यूपी, तेलंगाना जैसे कुछ राज्‍यों में भी लॉकडाउन को बढ़ाने का अनुरोध किया है। पिछले सप्‍ताह पीएम ने कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनजी सहित कुछ अन्‍य नेताओं से चर्चा की थी और देश में कोरोना वायरस के प्रकोप को करने के लिए किए जाने वाले उपायों के बारे में सुझाव मांगे थे। उन्‍होंने पूर्व राष्‍ट्रपति प्रतिभा पाटील, प्रणब मुखर्ज और पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह और एचडी देवेगोड़ा के साथ भी वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये चर्चा की थी। कोरोना वायरस की महामारी के कारण देश में अब तक 149 लोगों की मौत हुई है, इसमें से 35 मौतें पिछले 24 घंटों में हुई हैं। एक दिन में कोरोना वायरस के चलते देश में हुई मौतों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। देश में 21 दिनों का लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्‍म होगा। पीएम की शनिवार को राज्‍यों के मुख्‍यमंत्रियों के साथ होने वाली दूसरी बैठक में लॉकडाउन पर अंतिम फैसला लिया जाएगा।


सरकारी विज्ञापनों पर रोक का आग्रह

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (Coronavirus) से जंग लड़ने के लिए देश भर में कई कदम उठाए जा रहे हैं। केंद्र सरकार ने कई फैसले लिए हैं, और अब सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार को सलाह दी है। इस पर फराह खान का रिएक्शन आया है |



कोरोना वायरस से जंग लड़ने के लिए देश भर में कई कदम उठाए जा रहे हैं। केंद्र सरकार ने कई फैसले लिए हैं, और अब सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार को सलाह दी है। सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सलाह दी है कि वह सरकार और पीएसयू द्वारा मीडिया कंपनियों (टीवी, प्रिंट और ऑनलाइन) को विज्ञापन दिए जाने पर दो साल तक के लिए रोक लगा दें। सोनिया गांधी का यह सुझाव सोशल मीडिया पर खूब पढ़ा जा रहा है, और इस पर बॉलीवुड के मशहूर एक्टर संजय खान की बेटी और जूलरी डिजाइनर फराह खान अली का भी ट्वीट आया है जो खूब सुर्खियां बटोर रहा है।



कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के पीएम नरेंद्र मोदी को दिए गए इस सुझाव पर फराह खान अली ने ट्वीट किया है और लिखा है, ‘बहुत ही सही आइडिया। फराह खान अकसर सोशल मीडिया पर बहुत ही बेबाकी के साथ अपनी राय रखती हैं, और इस वजह से उन्हें कई बार ट्रोल भी किया जाता है, लेकिन वह अपनी बात रखने से पीछे नहीं हटती हैं। इस तरह इस बार भी उन्होंने सोनिया गांधी के इस विचार को एकदम सही ठहराया है। 


कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को  सरकारी विज्ञापन बंद करने, दिल्ली में 20,000 करोड़ रुपये के “सौंदर्यीकरण अभियान” को टालने तथा अधिकारियो-मंत्रियों का विदेश दौरा रद्द करने और पीएम केयर्स फंड की राशि को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत फंड में स्थानांतरित करने का सुझाव दिया है। यह चिट्ठी ऐसे समय लिखी गई जब हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्षी दलों के नेताओं से फोन पर बात करके कोरोना वायरस (Coronavirus) संकट के संबंध में सुझाव मांगे थे।


मुफ्त में होनी चाहिए कोरोना जांचः एससी

केंद्र सरकार को कहा कि निजी लैब को ज्यादा पैसा वसूलने से भी रोका जाए
नई दिल्ली। देश में कोरोना के 5,000 से ज्यादा मामले आ चुके हैं। इस जानलेवा वायरस से 149 लोगों की मौत हो चुकी है
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने आज केंद्र सरकार से कोरोना वायरस की जांच मुफ्त में कराने की व्यवस्था कराने को कहा है। शीर्ष अदालत ने कहा कि निजी लैब भी इस जानलेवा वायरस की जांच में ज्यादा पैसे न वसूले। कोरोना मामले की सुनवाई के दौरान अदालत ने डॉक्टरों को योद्धा बताते हुए उनके सुरक्षा के इतंजाम करने को भी कहा। कोर्ट ने कहा, ‘कोरोना के बीच डॉक्टरों और मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा अहम है। ये योद्धा हैं और उनकी तथा उनके परिवार की सुरक्षा बेहद जरूरी है। बता दें कि अस्पताल में भर्ती तबलीगी जमात के लोगों द्वारा डॉक्टरों और नर्सों के साथ बदसलूकी की लगातार खबरें आ रही हैं। सरकार की तरफ से पश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि केंद्र सरकार कोरोना से निपटने के लिए अहम कदम उठा रही है। उन्होंने बताया कि PPE किट का तेजी से इंतजाम किया जा रहा है। इसके अलावा पॉजिटिव लोग किसी को प्रभावित न करें, इसका भी ख्याल रखा जा रहा है।
सरकार बोली, कोरोना से निपटने को हर कोशिश
मेहता ने डॉक्टरों के वेतन से पैसे काटने की बात को गलत बताते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने सभी राज्य सरकारों एवं प्राइवेट डॉक्टर्स के वेतन में किसी भी प्रकार की कटौती न करने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से कहा कि कोरोना टेस्ट के रिम्बर्समेंट के लिए सरकार एक तंत्र बनाए। इसपर सरकार की तरफ से पेश मेहता ने कहा कि वे इस मामले को देखेंगे और इसकी कोशिश करेंगे। सरकार ने शीर्ष अदालत को बताया वह कोरोना से निपटने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है।


ट्रंप ने डब्ल्यूएचओ का फंड रोका

बताया चीन का हिमायती, कहा- रोक रहे हैं फंडिंग



वॉशिंगटन। कोरोना वायरस का खतरा दुनियाभर के देशों में बढ़ता जा रहा है। अमेरिका में कोरोना वायरस से हर दिन मौत के आंकड़ों में इजाफा हो रहा है। यह संख्या 12 हजार पार कर गई है। इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोविड-19 महामारी से निपटने के मामले में विश्व स्वास्थ्य संगठन को आड़े हाथों लिया है। ट्रंप ने WHO को चीन का बड़ा हिमायती बताते हुए उसकी फंडिंग रोकने की धमकी दी है.डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, विश्व स्वास्थ्य संगठन को अमेरिका से बड़े पैमाने पर धन मिलता है। मैंने चीन के लिए यात्रा पर बैन लगाया तो वो मुझसे असहमत थे और उन्होंने (डब्ल्यूएचओ) ने मेरी आलोचना की। वे बहुत सारी चीजों के बारे में गलत थे। ऐसा लग रहा है कि उनका चीन पर ज्यादा ध्यान है। हम डब्ल्यूएचओ पर खर्च की जाने वाली धनराशि पर रोक लगाने जा रहे हैं। उन्होंने कहा, हम उन्हें 5.8 करोड़ डॉलर से अधिक की धनराशि देते हैं। इतने वर्षों में उन्हें जो पैसा दिया गया है उसके मुकाबले 5.8 करोड़ डॉलर छोटा-सा हिस्सा हैं। कई बार उन्हें इससे कहीं ज्यादा मिलता है। ट्रंप ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए चीन से आने वाले विमानों पर रोक लगाने का जिक्र भी किया। उन्होंने पूछा कि WHO ने इस तरह की दोषपूर्ण सिफारिश क्यों की है? उन्होंने कहा कि सौभाग्य से मैंने चीन से अपनी सीमाएं जल्द खोलने की उनकी सलाह को खारिज कर दिया।


पीएम ने हनुमान जयंती की शुभकामना दी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लोगों को हनुमान जयंती की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि ‘‘पवनपुत्र’’ का जीवन भक्ति और शक्ति का प्रतीक है जो हर संकट का सामना करने और उससे पार पाने की प्रेरणा देता है।
उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘हनुमान जयंती के पावन अवसर पर देशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं।’’ मोदी ने कहा, ‘‘भक्ति, शक्ति, समर्पण और अनुशासन के प्रतीक पवन पुत्र का जीवन हमें हर संकट का सामना करने और उससे पार पाने की प्रेरणा देता है।


 


आतंकी व सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़

अमित तवर


श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले के सोपोर क्षेत्र में बुधवार को सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी को लेकर मिली गुप्त सूचना के बाद मंगलवार देर रात कश्मीर के उत्तरी जिले में सोपोर के आरामपोरा इलाके में घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया गया। उन्होंने बताया कि सुरक्षाबलों ने इलाके में तलाशी अभियान शुरू किया और आतंकवादियों को भागने से रोकने के लिए सख्त घेराबंदी की है। 
अधिकारियों ने बताया कि सुरक्षा बलों का आतंकवादियों के साथ सामना बुधवार सुबह हुआ, जब आतंकवादियों ने तलाश में जुटे सुरक्षा बलों के एक दल पर गोलीबारी शुरू कर दी, जिन्होंने तुरंत जवाबी कार्रवाई की, जिससे दोनों पक्षों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ अभी भी जारी है और आगे की जानकारी की प्रतीक्षा की जा रही है।



क्राइम ब्रांच ने मरकज पर कसा शिकंजा

क्राइम ब्रांच ने कसा तबलीगी जमात के मरकज पर शिकंजा


नई दिल्ली। दिल्ली क्राइम ब्रांच ने अब निजामुद्दीन में स्थित तबलीगी जमात के मरकज पर शिकंजा कसना प्रारंभ कर दिया है। आपको बताते जाए कि मरकज का कोरोना कनेक्शन सामने आने के बाद जमात के अमीर मौलाना साद सहित सात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है। इस मामले की जांच में जुटी क्राइम ब्रांच ने आरोपियों के बैंक अकाउंट को खंगालना शुरू कर दिया है। क्राइम ब्रांच की ओर से यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि इनको कौन-कौन लोग फंडिंग कर रहे थे। इसके अलावा किन-किन संस्थाओं से जमात को चंदा मिल रहा था। पीएफआई संस्था से फंडिंग हुई या नहीं? इसकी जांच भी की जा रही है। इस बीच मौलाना साद की भी तलाश तेज हो गई है। फिलहाल वह फरार है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने कल ही मौलाना साद को दूसरा नोटिस भेज दिया है। जिसमें 26 सवालों के जवाब मांगे गए थे। क्राइम ब्रांच ने उसके सेल्फ चरनटीन में होने की दलील को इस आधार पर खारिज कर दिया कि उसके पास ऑनलाइन अपनी सफाई देने का मौका है। मरकज में खाड़ी देशों से बड़ी मात्रा में फंड मिलता है, जो जांच के दायरे में है।


नागरिकों को मिले जरूरी दवाः राहुल

पहले हमारे नागरिकों को मिले ज़रूरी दवा : राहुल


नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की कोरोना के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन की भारत से आपूर्ति नहीं होने पर पलटवार की धमकी के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि सरकार को किसी के दबाव में आये बिना पहले अपने नागरिको को जीवन रक्षक दवा उपलब्ध करानी चाहिए। गांधी ने मंगलवार को कहा कि सबसे पहले हमारे नागरिको की ज़रूरत पूरी होनी चाहिए और उनको पर्याप्त मात्रा में ज़रूरी दवा मिलनी चाहिए उसके बाद ही ज़रूरतमंद देशो की मदद की जानी चाहिए। उन्होंने ट्वीट किया, दोस्ती में बदला नहीं होता। भारत को संकट के समय सभी ज़रूरतमंद देशों की मदद करनी चाहिए लेकिन पहले देशवासियो के लिए पर्याप्त मात्रा में जीवन रक्षक दवा उपलब्ध होनी चाहिए। गौतलब है कि राष्ट्रपति ट्रंप ने संकेत दिया है कि अगर भारत ने हाइड्रॉक्सी क्लोरोच्ीन दवा के निर्यात से प्रतिबंध नहीं हटाया तो वह जवाबी कार्रवाई कर सकते हैं। इस दवा का इस्तेमाल कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज में किया जा रहा है जिसे देखते हुए श्री ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस दवा की आपूर्ति के लिए गुहार लगाई थी।


शबे बारात, घरों में इबादत करेंः नकवी

शब-ए-बारात की रात घरों में ही इबादत करें:नकवी


नई दिल्ली। शब-ए-बारात को लेकर केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मुस्लिम समुदाय से दिशा निर्देशों का पालन करने की अपील की है। नकवी ने लोगों से कहा है कि वे शब-ए-बारात के मौके पर लॉकडाउन और सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंन्सिंग) के दिशानिर्देशों का पालन करें और इस दौरान अपने घरों पर ही इबादत करें। नकवी ने इस दौरान अपने एक बयान में कहा कि देश के ज्यादातर धर्म गुरूओं और धार्मिक-सामाजिक संगठनों की तरफ से शब-ए-बारात के दिन पूरी तरह से लॉकडाउन का ईमानदारी से पालन करने की अपील की गई है। बता दें कि इस बार 8-9 अप्रैल की रात शब-ए-बारात है। इस्लामी कैलेंडर में इस रात को पवित्र माना जाता है। इस मौके पर मुस्लिम समुदाय के लोग मस्जिदों में इबादत करते हैं। कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशभर में 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि केंद्रीय वक्फ परिषद के जरिए सभी राज्यों के वक्फ बोर्डो को निर्देश दिया गया है कि सभी लॉकडाउन, सोशल डिस्टेंन्सिंग के दिशा-निर्देशों का पालन कराने में प्रशासन की मदद करें। इसके साथ ही सभी राज्यों के वक्फ बोर्ड लोगों से शब-ए-बारात के दिन घरों में ही इबादत के लिए अपील करें।


लॉक डाउन में बाप-बेटे की हत्या

नीरज कुमार


पटना। जिले के दुल्हिन बाजार थाना इलाके की है जहां सोनियावा गांव में एक बाप ने अपने ही बेटे को गोली मार दी। मिली जानकारी के मुताबिक ईंट बंटवारे को लेकर हुई इस मामूली सी विवाद में बाप ने इस बड़ी वारदात को अंजाम दिया। बताया जा रहा है गोली लगने के कारण बेटे की हालत नाजुक बनी हुई है। उसे आनन-फानन में इलाज के लिए पटना पीएमसीएच भेजा गया है।


बताया जा रहा है कि सोनियावा गांव के रहने वाले अजय यादव पहली पत्नी के मौत हो गई थी। 8 वर्ष पहले उसने दूसरी शादी कर ली।पहली पत्नी से सुधीर कुमार(19) और रंधीर कुमार(17) दो पुत्र हैं।ईंट बंटवारा को लेकर पिता अजय यादव और पुत्र सुधीर कुमार आपस गाली गलौज करते हुए भिड़ गए।इस दौरान छोटा पुत्र रंधीर कुमार(17) को अकेले देख पिता ने पीटकर गंभीर रूप से जख्मी कर दिया।जख्मी देख बड़ा पुत्र सुधीर कुमार(19) पहुंचा ही था कि आक्रोशित पिता अजय यादव ने गोली चला दी।


घटना की सूचना मिलते ही पुलिस फ़ौरन मौके पर पहुंची और उसे इलाज के लिए स्थानीय पीएचसी में भर्ती कराया। जहां दोनों भाइयों की इलाज हुई।जिसके बाद गोली लगे बड़े भाई को पीएमसीएच में रेफर कर दिया गया।दुल्हिन बाजार थाना प्रभारी अशोक कुमार ने बताया कि पिता ने बेटे को गोली मारी है।आरोपी पिता को हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस आगे की कार्रवाई में जुटी हुई है।


गाजियाबाद प्रशासन लॉक डाउन के प्रति सख्त

गाजियाबाद प्रशासन लोक डाउन के प्रति सख्त


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। गाजियाबाद में लॉक डाउन को देखते हुए जिला अधिकारी अजय शंकर पांडेय एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के द्वारा संपूर्ण जनपद में धारा 144 लागू कर दी गई है। धारा 144 लागू करने के पीछे जनता के द्वारा लॉक डाउन का स्पष्ट उल्लंघन था। छोटे दुकानदार सर्वाधिक लोक डाउन का उल्लंघन कर रहे थे। जिसको देखकर चौराहे और गलियों में मुख्य स्थानों पर नोटिस चस्पा किए गए हैं। सभी पुलिस निरीक्षकों को आदेश दिया गया है कि वह लॉक डाउन का निष्ठा पूर्वक पालन करें, पालन कराएं और उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। नोटिस चस्पा किए गए हैं। यदि इसके बाद भी सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन नहीं किया जाता है या कोई उल्लंघन करता पाया जाता है तो धारा 144 का उल्लंघन एवं 188 के अंतर्गत  कार्रवाई की जाएगी। सभी थाना प्रभारियों के द्वारा अपने-अपने क्षेत्रों में प्रमुख स्थानों पर नोटिस चस्पा किए जा रहे हैं। जनता को पुलिस प्रशासन का सहयोग करने की आवश्यकता है। महामारी की रोकथाम के लिए लोक डाउन का सतत पालन करना अति आवश्यक है। इसे अन्यथा ना लें और जनता पुलिस को सहयोग करें।


लॉक डाउन पर केंद्र का 'मास्टर प्लान'

नई दिल्ली। देश में इस समय कोरोना के कारण 21 दिन का लॉकडाउन चल रहा है। लॉकडाउन की अवधि 14 अप्रैल को खत्म होने वाली है। लेकिन कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या में भी इजाफा हो रहा है। वही अब हर कोई एक ही सवाल पूछ रहा है कि क्या लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्म हो जाएगा? या आगे तक जारी रहेगा। इस बारे में प्रधानमंत्री मोदी ने सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी बात-चीत की और मुख्यमंत्रियों ने भी जिला प्रशासन की रिपोर्ट के आधार पर एक प्लान की मांग की हैं।


14 अप्रैल को हट जाएगा लॉकडाउन !
सरकार की योजना ये है जहाँ पर कोरोना संक्रमित मरीज ज्यादा है वहां से लॉकडाउन नहीं हटेगा, लेकिन जिन राज्यों या शहरों में कोरोना संक्रमित मरीज नहीं है वहां से लॉकडाउन हटाया जाएगा। 14 अप्रैल के बाद कुछ इलाकों से लॉकडाउन हटाया जा सकता है, लेकिन इसके लिए भी सरकार ने कोई नीति बना रखी होगी। सरकार लॉकडाउन हटाए जाने की स्थिति में भी धारा 144 को लागू करेगी जिस से कहीं भीड़ जमा ना हो। हालांकि,14 अप्रैल को लॉकडाउन की अवधि पूरी हो रही है लेकिन इस बात की संभावना कम ही है कि इस दौरान देश में से लॉकडाउन हट जाएगा। कुछ इलाकों में धारा 144 लागू रखी जा सकती है।


अमेरिकी सिंगर जॉन प्राइन की मौत

वाशिंगटन। कोरोना वायरस लगातार दुनिया के लिए बड़ी चुनौती बना हुआ है। दुनियाभर में 14 लाख से ज्यादा मरीज इसकी चपेट में हैं। जबकि 82,020 लोगों की मौत हो चुकी है। सुपर पावर अमेरिका में तो मंजर भयानक बना हुआ है। अमेरिका में इस संक्रमण के कारण 12,722 लोगों की मौत हो चुकी है। इस देश में अब भी 4 लाख लोग इस वायरस की चपेट में हैं। यहां पिछले 24 घंटे में 1939 लोगों की मौत हो चुकी है। इसी बीच खबर आई है कि 73 साल के मशहूर अमेरिकन जॉन प्राइन (John Prine) की कोरोना से मौत हो गई है। यह वायरस फिल्म जगत पर लगातार प्रहार करती नजर आ रही है। जॉन प्राइन से पहले भी कई सिंगर्स और एक्टर्स की कोरोना वायरस के कारण जानें जा चुकी हैं। न्यूज एजेंसी पीटीआई के अनुसार जॉन को लोक गीत लेखक के रूप में भी ख्याति प्राप्त थी। वह पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस से ग्रसित थे।
बता दें, भारत में लॉकडाउन के बावजूद लगातार स्थिति बिगड़ती जा रही है। देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 5290 हो गई है, जबकि 166 लोगों की मौत हो चुकी है। बिहार के बेगुसराय में कोरोना वायरस के 4 नए मरीज मिले। राज्य में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 38 हुई।


सिचुएशन पर डिपेंड रहेगा 'लॉक डाउन'

मनोज सिंह ठाकुर


रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया की उपस्थिथिति में प्रदेश कांग्रेस की महत्वपूर्ण बैठक मंगलवार को वीडियो कांफ्रेन्सिंग से हुई। बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना वायरस से बचाव के संदर्भ में राज्य सरकार की ओर से उठए गए कदमों, निर्णयों की विस्तृत जानकारी दी। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कोरोना महामारी से बचाव में छत्तीसगढ़ की बेहतर स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि सभी के सहयोग से आज इस महामारी से निपटने में कामयाब हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि खतरा अभी टला नहीं है, सतर्कता और सोशल डिस्टेंसिग बरकरार रखना है। गांव में भी यही संदेश देना है। खेतों में काम जरुरी है, लेकिन सोशल डिस्टेंसिग के साथ। उन्होंने कहा कि आगे लॉक डाउन के संबंध में निर्णय सभी से विचार विमर्श कर परिस्थितयों के आधार पर होगा।उन्होंने विधायकों और जिलाध्यक्षों से उनके क्षेत्रों में आ रही परेशानियों की जानकारी ली और उसके निराकरण के आदेश भी दिए। 
बैठक में प्रभारी पीएल पुनिया ने कोरोना महामारी से बचाव के लिए राज्य सरकार और मुख्यमंत्री की ओर से लिए निर्णयों की तारीफ की। उन्होंने कहा कि आज छत्तीसगढ़ की तारीफ पूरे देश में हो रही है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव की भी तारीफ की कि उन्होंने बेहतर चिकित्सा सुविधा के लिए अच्छे इंतजाम किए। उन्होंने एआईसीसी के निर्देश पर गठित व्हाट्सएप ग्रुप का जिक्र किया। मुख्यमंत्री के सलाहकार विनोद वर्मा, राजेश तिवारी की भी प्रशंसा की। उन्होंने सीजी फाइट अगेन कोरोना ग्रुप के गठन के लिए शैलेश नितिन त्रिवेदी ,जयवर्धन बिस्सा,बेहतर समन्यवय के लिए गिरीश देवांगन, चंद्रशेखर शुक्ला की भी तारीफ की पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम ने कोरोना वैश्विक महामारी से बचाव के लिए सरकार और मुख्यमंत्री की ओर से उठाए गए कदमों की तारीफ की। उन्होंने सभी जिला अध्यक्षों और पदाधिकारियों से राहत और बचाव कार्य में प्रशासन का पूरा सहयोग देने के निर्देश दिए। साथ ही किसी भी जरुरतमंद के लिए 24 घंटे खड़े रहने का निर्देश दिया।


स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने इस बात पर जोर दिया कि खतरा अभी टला नहीं है। इलाज के बेहतर इंतजाम किए गए हैं। लॉक डाउन को और बढ़ाना चाहिए, दूरस्थ क्षेत्रों या जहां संक्रमण फैलने की संभावना कम हो, वहां पर इसमे छूट दी जा सकती है। बैठकमें सभी मंत्रियों ने अपने विभाग से संबंधित कोरोना बचाव के कार्यों की जानकारी दी। नगरी निकाय मंत्री शिव डहरिया ने बताया कि हर निगम क्षेत्रों में महापौरों और पार्षदों के निधि का ट्रांसफर किया जा चुका है। पार्षद चाहे तो इस निधि का उपयोग लोगों को राशन सामग्री, चावल के अतिरिक्त, तेल मसाला, आटा आदि दिलाने में भी उपयोग कर सकते हैं। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने राशन दुकानों और पंचायतों में खाद की उपलब्धता की जानकारी दी। राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जय सिंह अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश में 1957 राहत कैम्प चलाये जा रहे हंै। प्रदेश की सभी सीमाओं पर कैम्प चल रहे हैं, जिसमें 12000 से अधिक लोग भोजन कर रहे हंै। मंत्री अनिला भेडिय़ा ने बताया कि 11 लाख हितग्राहियों को 3 माह का पेंशन एकमुश्त देने की व्यवस्था की जा रही है। 
मीटिंग में विभिन्न विधायकों-जिलाध्यक्षों ने अपने क्षेत्र की समस्याओं के संबंध में जानकारी और सुझाव दिया। राजनांदगांव शहर अध्यक्ष ने राशन के साथ गैस के इंतजाम की बात कही। बिलासपुर जिलाध्यक्ष विजय केशरवानी ने दूध स्टाल बढ़ाने की मांग रखी, जिसका कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे ने तत्काल आदेश दिया। जांजगीर अध्यक्ष चौलेश्वर चंद्राकर ने राज्य के बाहर गए मजदूरों कि समस्या उठाई। कवर्धा अध्यक्ष नीलू चंद्रवंशी ने किसान क्रेडिट कार्ड का मुद्दा उठाया विधायको ने अपने अपने क्षेत्र की बातें रखी।


बैठक में एआईसीसी के महामंत्री केसी वेणुगोपाल , प्रभारी सचिव चंदन यादव,प्रदेश सरकार के मंत्री ताम्रध्वज साहू रविन्द्र चौबे, ,मो.अकबर,शिव डहरिया कवासी लखमा,अमरजीत भगत, डॉ. प्रेम साय सिंह ,रुद्र गुरु,उमेश पटेल,अनिलाभेडिय़ा कांग्रेस के सांसद ज्योत्सना महंत, दीपक बैज,छाया वर्मा सहित सभी विधायक ,जिला कांग्रेस अध्यक्ष ,महापौर और पीसीसी पदाधिकारी मीटिंग में शामिल हुए।


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सावधानी बरतें, सतर्क रहें।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


अप्रैल 09, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-241 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार, अप्रैल 09, 2020
3. शक-1942, वैशाख, कृष्ण-पक्ष, तिथि- प्रतिपदा, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 06:10,सूर्यास्त 06:45।


5. न्‍यूनतम तापमान 18+ डी.सै.,अधिकतम-33+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...