गुरुवार, 7 सितंबर 2023

बदसलूकी: थाने में पहुंची पीड़िता के उतरवाएं कपड़े

बदसलूकी: थाने में पहुंची पीड़िता के उतरवाएं कपड़े 

संदीप मिश्र 
कानपुर। रास्ते में युवक द्वारा की गई छेड़छाड़ की शिकायत लेकर पहुंची पीड़िता जांच के नाम पर थाने में पुलिस उत्पीड़न का शिकार हो गई। 
आरोपी के सामने ही लड़की के कपड़े उतरवाए गए और महिला कांस्टेबल द्वारा उसके फोटो खींचे गए। थाने में हुए इस उत्पीड़न से बुरी तरह से डरी लड़की को बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जनपद के साढ थाना क्षेत्र के रहने वाले किसान की 16 वर्षीय छात्रा के साथ गांव के ही रहने वाले अमन कुरील द्वारा स्कूल से आते-जाते समय छेड़छाड़ की जाती थी। युवक ने लड़की के फोटो को एडिट कर उसे अश्लील बनाते हुए वायरल कर दिया था।  एक दिन फोन छीनकर लड़की के साथ मारपीट भी की गई थी। घर में शिकायत करने के बाद भी अमन अपनी हरकतों से बाज नहीं आया तो पीड़ित किसान की ओर से 3 सितंबर को साढ थाने में युवक के खिलाफ तहरीर दी गई। 
पुलिस ने अमन के खिलाफ छेड़खानी, पोक्सो एक्ट एवं जान से मारने की धमकी देने समेत कई अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर लिया था। पीड़ित किसान का आरोप है कि पुलिस ने उसकी बेटी को जांच के नाम पर थाने बुलाया और वहां मौजूद महिला कांस्टेबल ने जांच के नाम पर आरोपी युवक के सामने ही उसकी बेटी के कपड़े उतरवा दिए। 
जिससे बुरी तरह से तनाव में आई लड़की की तबीयत बिगड़ गई और पिछले तीन दिनों से वह हाइलाइट अस्पताल में भर्ती है। 
इस मामले को लेकर एडीसीपी साउथ अंकिता शर्मा ने बताया है कि पुलिस द्वारा की गई आरंभिक जांच में किसान की ओर से लगाए गये आरोपों की पुष्टि नहीं हुई है। 
फिर भी एसीपी घाटमपुर के साथ मिलकर किसान के आरोपी की संयुक्त रूप से जांच की जाएगी। आरोप सही पाए जाने पर जिम्मेदारों के खिलाफ सख्त कदम उठाते हुए कड़ी कार्यवाही की जाएगी।

अपनी डाइट में शामिल करें हरी सब्जियां, जानिए

अपनी डाइट में शामिल करें हरी सब्जियां, जानिए 

सरस्वती उपाध्याय 
हरी पत्तेदार सब्जियाँ सबसे अधिक पोषक तत्वों से भरपूर फूड आइटम्स मे हैं, जिन्हें आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। हरी पत्तेदार सब्जियां भारतीय खानों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा रही हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि इन पत्तेदार सब्जियों से आप कई तरह की खाने की चीजें बना सकते हैं। 
वहीं, अगर आप वजन कम करना चाहते हैं तो एक्सपर्ट्स भी हरी सब्जियों के सेवन पर जोर देने की बात कहते हैं। आज हम चर्चा करने जा रहे हैं कि मेथी की जिसको आप वजन कम करने के लिए अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं‌। 
दिलचस्प बात यह है कि इसकी पत्तियों के साथ-साथ बीज (मेथी दाना) भी अपने कई स्वास्थय लाभों के लिए जाना जाता है।
मेथी को फाइबर से भरपूर माना जाता है‌। इसलिए यह आपकी भूख को कंट्रोल कर सकता है, जिससे आपको वजन कम करने में मदद मिलेगी‌।
अगर आप सही तरीके से इसका सेवन करते हैं तो मेथी ब्लड शुगर के लेवल को भी कंट्रोल करने में मदद कर सकती है। मेथी आयरन और अन्य खनिजों का भी एक अच्छा स्रोत है, जो आपके पूरे स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है।
वजन कम करने के लिए आप अपने दिन की शुरूआत मेथी की चाय पीने के साथ कर सकते हैं. मेथी चाय आपकी सुबह की शुरुआत करने का एक शानदार तरीका हो सकता है। आप इसे घर पर आसानी से बना सकते हैं।मेथी चाय का सेवन वजन कम करने वालों के साथ ही डायबिटीज रोगियों के लिए भी बेहद फायदेमंद हो सकती है‌
मेथी के बीजों के फायदे उठाने के लिए आप इसका सेवन कई तरीकों से कर सकते हैं। आप मेथी के दानों को पानी में भिगोकर रख दें और रात भर भीगने दे। इसके बाद सुबह उठकर इस पानी को पीलें।
आप अपनी डाइट में अंकुरित मेथी के बीजों का भी सेवन कर सकते हैं। ऐसा करने का एक आसान तरीका है कि आप इसके अंकुरित बीजों को अपने सलाद में शामिल कर सकते हैं‌।
थेपला सबसे लोकप्रिय और हेल्दी गुजराती व्यंजनों में से एक है। ये मेथी पराठे की तरह होते हैं।लेकिन उनमें स्वादों का एक विशिष्ट संयोजन होता है। थेपला अपने आप में एक तृप्तिदायक और पौष्टिक भोजन माना जाता है।
इसे नाश्ते, दोपहर के भोजन, रात के खाने में खाया जा सकता है। आप मेथी का थेपला बनाकर भी इसका सेवन कर सकते हैं और इसे अपनी डाइट का हिस्सा बना सकते हैं।
अन्य पत्तेदार सब्जियों की तरह, मेथी का उपयोग भी कई प्रकार की सब्ज़ियों को बनाने में किया जा सकता है। आप कई सब्जियों में मेथी के बीजों को शामिल कर सकते है या फिर मेथी की पत्तियों की सब्जी बनाकर भी खा सकते हैं।

मां के गर्भ से निकलते ही चलता दिखा 'नवजात'

मां के गर्भ से निकलते ही चलता दिखा 'नवजात' 

सरस्वती उपाध्याय 
सोशल मीडिया पर आए दिन ऐसे वीडियो वायरल होते रहते हैं, जिन्हें देखकर हर कोई हैरत में पड़ जाता है। कुछ वीडियो तो ऐसे होते हैं, जिन्हें देखकर हमें अपनी आंखों पर यकीन नहीं होता है। 
इन दिनों एक ऐसा ही वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, जिसे देखकर आपको अपनी आंखों पर यकीन नहीं होगा। 
इस वीडियो में एक बच्चे को मां के गर्भ से निकलते ही चलते देखा गया। बच्चा जैसे ही मां के पेट से बाहर निकला, वो वॉक करने लगा। वीडियो में बच्चे को बेड पर एक नर्स पकड़े दिख रही है। वहीं उसके हाथ के सपोर्ट पर बच्चा चलने लगा। ये वीडियो अद्भुत है क्यूंकि मां के गर्भ से निकलने के बाद बच्चों की हड्डियां काफी कमजोर होती हैं। वो चलने में असमर्थ होते हैं। लेकिन यहां तो मैजिक हो गया। 
बता दें वायरल हो रहे इस वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर किया गया। इसे देखने के बाद लोग हैरान हैं। ये वाकई हैरानी की बात है कि गर्भ से निकला नवजात अपने कदम बढ़ा रहा था। बच्चों को ऐसा करने में पांच से छह महीने लगते हैं। तब तक उनके पैर की हड्डियां थोड़ी मजबूत होती हैं। इसके बाद ही वो चल पाते हैं। 
लेकिन इस बच्चे को तो कुछ ज्यादा ही जल्दी थी। उसने तुरंत ही अपना कमाल दिखाया और वॉक करने लगा। 
बता दें इस वीडियो को इंस्टाग्राम पर शेयर किया गया, जहां से अभी तक इसे लाखों बार देखा जा चुका है। लोगों ने इस बच्चे को 5 G बच्चा बताया। कैप्शन में लिखा था कि ऐसे बच्चे किसी चीज का वेट नहीं करते। कमेंट में लोगों ने इस वीडियो को काफी मजेदार बताया। वहीं एक यूजर ने कमेंट में लिखा कि ये तो एक साल का होने से पहले ही कई कारनामे कर दिखाएगा। वहीं अन्य यूजर ने लिखा कि शायद इसकी मां ने प्रेग्नेंसी में काफी चिकन सूप पिया था।

160 कि.ग्रा. वजन की महिला बिस्तर से गिरी, टीम

160 कि.ग्रा. वजन की महिला बिस्तर से गिरी, टीम 

कविता गर्ग 
ठाणे। महाराष्ट्र के ठाणे शहर में बृहस्पतिवार को 160 किलोग्राम वजन की एक बीमार महिला अपने बिस्तर से नीचे गिर गई, जिसे उठाने के लिए परिवार के सदस्यों ने अग्निशमन विभाग की मदद मांगी। 
नगर निकाय के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने बताया कि खराब स्वास्थ्य की वजह से चलने-फिरने में दिक्कत से जूझ रही 62 वर्षीय महिला वाघबिल इलाके में अपने फ्लैट में सुबह करीब आठ बजे दुर्घटनावश बिस्तर से गिर गई। 
ठाणे नगर निगम के अधिकारी ने कहा कि परिवार के सदस्य महिला को वापस बिस्तर पर लिटाने में नाकाम रहे। निगम के आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रमुख यासीन तड़वी ने बताया कि परिवार के सदस्यों ने मदद के लिए अग्निशमन अधिकारियों से संपर्क किया।
उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ (आरडीएमसी) का एक दल तुरंत फ्लैट पर पहुंचा, जिन्होंने महिला को उठाया और वापस बिस्तर पर लिटाया। अधिकारी ने कहा कि महिला को गिरने से किसी प्रकार की चोट नहीं आई है। अधिकारी ने कहा कि आरडीएमसी कई तरह की आपात स्थितियों से निपटता है लेकिन यह एक असामान्य स्थिति थी।

नौसेना अधिकारी की सास से 2 लाख की धोखाधड़ी

नौसेना अधिकारी की सास से 2 लाख की धोखाधड़ी 

कविता गर्ग 
मुंबई। भारतीय नौसेना में वाइस एडमिरल रैंक के एक अधिकारी की 81 वर्षीय सास से करीब दो लाख रुपये की ऑनलाइन धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। बुजुर्ग महिला को एक प्रमुख बैंक के नाम पर ‘रिवॉर्ड प्वाइंट’ को भुनाने का लालच दिया गया, जिसके बाद उनके साथ यह ठगी हुई। पुलिस ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी।
पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि महिला ने इस संबंध में मंगलवार शाम को दक्षिण मुंबई स्थित कफ परेड पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने बताया कि पीड़िता कोलाबा स्थित नौसेना अधिकारी आवासीय क्षेत्र (एनओएफआरए) में अपनी बेटी और दामाद के साथ रहती हैं। महिला के दामाद नौसेना में वाइस एडमिरल-रैंक अधिकारी हैं।
अपनी शिकायत में महिला ने बताया कि उन्हें तीन सितंबर की शाम को अपने मोबाइल फोन पर एक संदेश मिला, जिसमें उनसे तुरंत 5,899 रुपये के ‘रिवॉर्ड प्वाइंट’ को भुनाने के लिए कहा गया और कहा गया कि ऐसा करने का आखिरी दिन है। उन्होंने बताया कि संदेश में एक लिंक मौजूद था, जिसे खोलने को कहा गया था। 
अधिकारी ने बताया कि महिला ने अगले दिन लिंक पर क्लिक किया, जिससे वह बैंक के आधिकारिक पेज पर पहुंच गईं।
अधिकारी के मुताबिक, होम पेज पर दिए गए निर्देशों के अनुसार उन्हें वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी) विकल्प पर क्लिक करने को कहा गया। ऐसा करने के बाद, उनके मोबाइल फोन पर छह अंकों का एक ओटीपी आया, जिसे उन्होंने पोर्टल पर दर्ज कर दिया। उन्हें दो बार और ऐसा करने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया कि इस तरह उन्होंने तीन बार ओटीपी डाल दिया।
उन्होंने बताया कि जब महिला ने बैंक के मोबाइल ऐप में देखा तो उन्होंने पाया कि उनके बैंक खाते से तीन लेनदेन में 89,798 रुपये, 89,813 रुपये और 19,858 रुपये निकाल लिए गए। पुलिस ने बताया कि उन्होंने मामले की सूचना अपने दामाद को दी, जिन्होंने उन्हें साइबर जालसाजी का शिकार होने की बात बताई। इसके बाद बुजुर्ग महिला ने बैंक की एक शाखा से संपर्क किया, जहां से वह अपनी शिकायत दर्ज कराने के लिए पुलिस थाने गईं।
पुलिस के मुताबिक, महिला की शिकायत के आधार पर अज्ञात साइबर धोखेबाजों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 419 (रूप बदलकर धोखाधड़ी), 420 (धोखाधड़ी) और भारतीय प्रौद्योगिकी अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि मामले की जांच की जा रही है।

लड़के को चिंगम की तरह चिपकी लड़की, गजब

लड़के को चिंगम की तरह चिपकी लड़की, गजब 

सरस्वती उपाध्याय 
क्या आपने कभी सोचा है कि कोई इंसान किसी दूसरे इंसान से ऐसे चिपक सकता है ? जैसे शरीर से चिंगम चिपक जाती है। सुनकर आप लोग हैरत में पड़ गए होंगे कि आखिर ऐसा कैसे हो सकता है ?
लेकिन इन दिनों एक लड़के और लड़की का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें ये बात सही होती दिखाई दे रही है।
दरअसल इंस्टाग्राम अकाउंट @fantom.dance.inspirations पर कुछ वक्त पहले एक लड़के और लड़की का गजब स्टंट करते हुए वीडियो वायरल हुआ है। इस वीडियो में लड़के से ज्यादा लड़की को देखकर हैरानी होगी, क्योंकि असली स्टंट तो वही करती दिख रही है। 
वीडियो में आप खुद देख सकते हैं कि लड़की ने खुद को रबर बैंड की तरह शख्स की कमर में गोल घुमाकर फंसा लिया है और शख्स उसे पकड़े हुए है।
लड़की को देखने से ऐसा लग रहा है कि वो कोई जिमनास्ट है।जिसने शरीर को पूरी तरह से मोड़ लिया है। वहीं उसके बाद उसने अपने पैरों को गले में फंसा लिया है जिससे वो नीचे ना गिरे। इस दौरान लड़के के दोनों हाथ बाहर हैं, यानी अपने ही दम पर लड़के की कमर से फंसी हुई है, उसे कमर पर रोखे रखने में लड़के का कोई हाथ नहीं है। उल्टा वो उस लड़की को अपनी कमर पर बांधने के बाद ब्रेक डांस करता दिख रहा है। वहीं वीडियो में लड़की के एक्सप्रेशन भी देखने वाले हैं। 
इस वीडियो को 1 करोड़ से ज्यादा व्यूज मिल चुके हैं जबकि कई लोगों ने कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है। एक ने कहा- लड़की बेल्ट की तरह लड़के की कमर से फंसी हुई है। वहीं एक ने कहा कि लड़की बहुत गजब तरीके से अपने स्थान पर ही टिकी हुई है।

पत्नी को चांद पर जमीन का टुकड़ा गिफ्ट किया

पत्नी को चांद पर जमीन का टुकड़ा गिफ्ट किया

मिनाक्षी लोढी 
कोलकाता। पश्चिम बंगाल के झारग्राम जिले के एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को उसके जन्मदिन के मौके पर चंद्रमा पर जमीन का एक टुकड़ा गिफ्ट में दिया। 10,000 रुपये में एक एकड़ जमीन खरीदने का दावा करने वाले संजय महतो ने कहा कि उन्होंने अपनी पत्नी से शादी करने से पहले चांद लाने का वादा किया था। महतो ने कहा कि ऐसा उपहार खरीदने की प्रेरणा उन्हें भारत के सफल चंद्रयान-3 मिशन के बाद मिली। इससे उन्हें विश्वास हो गया कि अपनी पत्नी से किया गया वादा पूरा करने का उनका सपना साकार हो सकता है।
'रिपोर्ट' के अनुसार, महतो ने बताया, ''मैं और मेरी पत्नी के बीच लंबे समय तक प्रेम संबंध रहे और फिर पिछले अप्रैल में शादी हो गई। मैंने उससे चांद लाने का वादा किया था। मैं उस वादे पर खरा नहीं उतर सका। लेकिन अब, हमारी शादी के बाद उसके पहले जन्मदिन पर, मैंने सोचा कि क्यों न उसे चंद्रमा पर एक प्लॉट उपहार में दिया जाए।'' अपने दोस्त की मदद से उन्होंने लूना सोसाइटी इंटरनेशनल के माध्यम से जमीन खरीदी। पूरी प्रक्रिया को पूरा होने में लगभग एक साल लग गया। महतो ने कहा कि मैं उसके लिए चंद्रमा पर एक एकड़ जमीन लिया हूं। 
वहीं, जब यह पूछा गया कि उसी पैसे से वह अपनी पत्नी के लिए कुछ और चीज भी ले सकते थे, तो उन्होंने जवाब दिया कि हां, मैं ला सकता था। लेकिन चंद्रमा हम दोनों के दिलों में एक विशेष स्थान रखता है। इसलिए, एक विवाहित जोड़े के रूप में उनके पहले जन्मदिन पर, मैं इससे बेहतर कुछ नहीं सोच सका।
बता दें कि पिछले महीने ही इसरो को तब बड़ी सफलता मिली जब उसने चंद्रयान-3 को चांद के दक्षिणी ध्रुव पर सफलतापूर्वक लैंड करवाया। चांद पर पहुंचने वाला भारत अमेरिका, चीन, सोवियत संघ के बाद चौथा देश है, जबकि चांद के दक्षिणी छोर पर लैंड करने वाला भारत दुनिया का पहला देश है। लैंडिंग के बाद चंद्रयान-3 ने चांद से इसरो कमांड सेंटर को कई अहम जानकारियां भेजी हैं। आने वाले समय में यह जानकारियां चंद्रमा की स्टडी के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित होंगी।

युवती को निकाह का झांसा देकर इंकार किया

युवती को निकाह का झांसा देकर इंकार किया 

संदीप मिश्र 
रूड़की। स्थानीय युवती से एक युवक काफी अरसे तक निकाह करने का झांसा देकर दुराचार करता रहा। अब युवक युवती के साथ निकाह करने से साफ इंकार कर रहा है। युवती द्वारा इस बाबत पुलिस को तहरीर दी गयी है। पुलिस द्वारा मामले की जांच की जा रही है।
उक्त मामला कोतवाली रूड़की अन्तर्गत का है। घटना की बाबत उत्तर प्रदेश के जिले शामली अन्तर्गत कस्बे जलालाबाद निवासी युवती का आरोप है कि उसकी रूड़की निवासी युवक से पहले दोस्ती थी। यह दोस्ती बाद में प्रेम प्रसंग में बदल गयी।
इसके बाद युवक ने कई बार उसे निकाह करने का झांसा देते हुए उसके साथ कई बार दुराचार किया। पुलिस द्वारा मामले की तफ्तीश की जा रही है।

क्‍लाइमेट ट्रेंड्स ने ‘ईवी डैशबोर्ड’ जारी किया

क्‍लाइमेट ट्रेंड्स ने ‘ईवी डैशबोर्ड’ जारी किया 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। देश के वाहन बाजार में इलेक्ट्रिक गाडि़यों (ईवी) की पैठ लगातार बढ़ रही है। ऐसे में क्लाइमेट थिंकटैंक ‘क्‍लाइमेट ट्रेंड्स’ ने ‘क्‍लाइमेट डॉट’ के साथ मिलकर आज ‘ईवी डैशबोर्ड’ जारी किया। क्लाइमेट ट्रेंड्स की निदेशक आरती खोसला ने इसको जारी करते हुए कहा की - यह अनोखा डैशबोर्ड सरकार के ‘वाहन’ पोर्टल की मदद से इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री से सम्‍बन्धित रियल टाइम डेटा लेकर उसे बेहद आसान और उपयोगकर्ता के लिये सुविधाजनक तरीके से पेश करता है जिससे बाजार में इलेक्ट्रिक वाहनों की पैठ समेत विभिन्‍न स्‍तरों के बारे में त्‍वरित विश्‍लेषण और शोध किया जा सकता है।
विशेषज्ञों का मानना है कि भारत में राष्‍ट्रीय और राज्‍यों के स्‍तर पर बनी ईवी नीतियों को उपभोक्ताओं के प्रति और मित्रवत बनाने तथा इस सिलसिले में एक नियामक कार्ययोजना लागू करने की पूरी गुंजाइश है।देश में लागू इलेक्ट्रिक वाहन नीतियों और उनकी प्रभावशीलता को समझने के लिये ईवी बिक्री विश्लेषण की आवश्यकता तथा अन्य पहलुओं पर विचार के लिये एक वेबिनार आयोजित किया गया।  
क्लाइमेट डॉट के निदेशक अखिलेश मागल ने ईवी डैशबोर्ड का जिक्र करते हुए कहा कि इस टूल के जरिये हमने इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के क्षेत्र में मौजूद खामियों को ढूंढने पर ध्यान दिया है। इस डैशबोर्ड के जरिए उपयोगकर्ताओं को एक ऐसा मंच देने की कोशिश की गयी है जहां वे अपनी बात को बहुत प्रभावशाली तरीके से रख सकें। हालांकि अभी यह डैशबोर्ड का पहला संस्‍करण ही है। भविष्य में इसे और बेहतर बनाने की कोशिश की जाएगी। यह डैशबोर्ड सिर्फ शोधकर्ताओं और अध्‍ययनकर्ताओं के लिए ही नहीं, बल्कि उन पत्रकारों के लिए भी है जो इस पर कोई लेख लिखना चाहते हैं, इसलिए हमने यह सुनिश्चित किया है कि जो भी डाटा डैशबोर्ड पर डाले जाए वह बिल्कुल सटीक हों। हमारा यह भी उद्देश्य है कि पब्लिक नैरेटिव भी बना रहे क्योंकि किसी भी तरह का रूपांतरण करने में जनमत की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है।
क्लाइमेट डॉट के अंकित भट्ट ने इलेक्ट्रिक व्हीकल डैशबोर्ड के बारे में विस्तार से बताते हुए कहा कि इस डैश बोर्ड में सबसे पहले भारत में इलेक्ट्रिक वाहनों के बाजार के बारे में बताया गया है। इन वाहनों को चार श्रेणियां में बांटा गया है। इनमें मुख्‍यत: दो पहिया वाहन, तिपहिया वाहन, चार पहिया वाहन और बसें शामिल हैं। इसमें इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री का राज्यवार ब्यौरा भी दिया गया है। देश का हर राज्य इलेक्ट्रिक मोबिलिटी में आगे निकलने के लिये चुनौती पेश कर रहा हैा इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को लेकर राज्यों की एक से बढ़कर एक नीतियों से उनकी यह मंशा जाहिर होती है। इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री के मामले में उत्तर प्रदेश सबसे आगे नजर आता है लेकिन इस राज्‍य में बिकने वाले इलेक्ट्रिक वाहनों में एक बड़ा हिस्सा तिपहिया वाहनों का है।
उन्‍होंने कहा कि यह दिलचस्प है कि उत्तर प्रदेश की इलेक्ट्रिक वाहन नीति वर्ष 2022 में आई लेकिन इस राज्य में तिपहिया इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री उससे पहले ही बढ़ना शुरू हो गई थी। उत्तर प्रदेश में तिपहिया वाहनों की बिक्री सबसे ज्यादा है। महाराष्ट्र और कर्नाटक इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री के मामले में दो अन्य अग्रणी राज्य हैं। यह दिलचस्प है कि जहां उत्तर प्रदेश में शेयर्ड मोबिलिटी में इलेक्ट्रिक गाड़ियों की तादाद ज्यादा है वहीं, महाराष्ट्र और कर्नाटक में निजी  इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने वालों की संख्या अधिक है। दिल्ली की इलेक्ट्रिक वाहन नीति इस राज्य को इलेक्ट्रिक मोबिलिटी कैपिटल बनाने के विजन पर आधारित है। इलेक्ट्रिक बसों की खरीद के मामले में यह राज्य अन्य के मुकाबले बहुत आगे हैं।
भट्ट ने कहा कि नीति आयोग ने वाहनों के सभी सेगमेंट्स में वर्ष 2030 तक इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी को 30% तक करने की योजना बनाई है। उपभोक्ताओं का इलेक्ट्रिक वाहनों को लेकर जिस तरह से रुझान बढ़ रहा है और राज्यों के स्तर पर जिस तरीके की प्रभावशाली इलेक्ट्रिक वाहन नीतियां बनायी जा रही हैं, उनके मद्देनजर इस बात की प्रबल संभावना है कि वर्ष 2030 तक के लिए निर्धारित लक्ष्य को हासिल कर लिया जाएगा।
इलेक्ट्रिक मोबिलिटी विशेषज्ञ नारायण कुमार ने ईवी नीतियों को और व्‍यापक तथा उपयोगकर्ताओं के हितों के प्रति और बेहतर बनाने की जरूरत पर जोर देते हुए वेबिनार में कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए न सिर्फ राष्ट्रीय स्तर पर बल्कि राज्यों के स्तर पर भी मजबूत नियामक कार्य योजनाएं बनाने की जरूरत है। राज्यों को उनकी स्थिति के अनुरूप नीति बनाने की जरूरत है क्योंकि हर राज्य अपने आप में अलग है, इसलिए यह बहुत जरूरी है कि हम मजबूत नियामक कार्ययोजनाओं पर ध्यान दें ताकि चीजों को सतत तरीके से किया जा सके।
उन्‍होंने कहा, ‘‘जब चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर की बात आती है या इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाने का विषय हो, तब यह बहुत जरूरी है कि हमारे पास एक मजबूत रेगुलेटरी फ्रेमवर्क हो। यह फ्रेमवर्क ऐसा होना चाहिए जो निवेशकों को भी निवेश की सुरक्षा के प्रति विश्वास दिलाए। उसके लिए हमें अपने फाइनेंशियल मेकैनिज्म पर बहुत ध्यान देना होगा। वर्तमान में इलेक्ट्रिक वाहनों को किस्तों पर खरीदने पर वसूले जाने वाले ब्याज की दर कई बार बहुत ज्यादा होती है। इसमें ज्यादा से ज्यादा एकरूपता लाये जाने की जरूरत है।’’
उत्तर प्रदेश में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री लगातार दोहरे अंकों में रिकॉर्ड की जा रही है और क्‍लाइमेट ट्रेंड्स एवं क्‍लाइमेट डॉट के डैश बोर्ड के मुताबिक भारत में सिर्फ छह राज्य उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात और राजस्थान ही देश की कुल इलेक्ट्रिक वाहन बिक्री में 60% का योगदान कर रहे हैं। बाकी 40% हिस्सा देश के अन्य राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों का है। कर्नाटक को छोड़कर बाकी सभी राज्यों ने इलेक्ट्रिक वाहनों पर डिमांड साइड इंसेंटिव की पेशकश की है।
इंटरनेशनल काउंसिल ऑन क्‍लीन ट्रांसपोर्टेशन की शोधकर्ता शिखा रुकाडिया ने नीतियों और कार्यक्रमों के माध्यम से इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री को कैसे बढ़ाया जाए, इस पर रोशनी डालते हुए कहा, ‘‘यह सही है कि इलेक्ट्रिक वाहनों की पैठ देश के कुछ मुट्ठी भर राज्यों तक ही सीमित है। हम यह देख रहे हैं कि जो भी बढ़ोत्‍तरी हुई है उनमें से 80% हिस्सा दोपहिया वाहनों का है। सरकार ने समय-समय पर इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रति रुझान बढ़ाने के लिए नीतियां लागू की है लेकिन उनमें समय पर उतार-चढ़ाव भी देखा गया है। कई बार सब्सिडी की धनराशि घटाई गई है।
इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद से जुड़े कुछ व्‍यावहारिक पहलुओं का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा, ‘‘निश्चित रूप से इलेक्ट्रिक वाहन टेक्नोलॉजी को आम लोगों तक पहुंचने में राज्य सरकारों की काफी महत्वपूर्ण भूमिका है। दोपहिया वाहनों के मामले में देखें तो खासतौर पर पेट्रोल और इलेक्ट्रिसिटी वाहनों के बीच हाई कास्ट डिफरेंशियल के मद्देनजर टीसीओ केस पहले से ही लुभावना है, लेकिन एक सच्चाई यह भी है कि उपभोक्ता टीसीओ को देखकर गाड़ी खरीदने का फैसला नहीं करते। अपफ्रंट प्राइसिंग एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है इसलिए गाड़ी की कीमत की काफी अहम भूमिका होती है। ऐसे में राज्यों को भूमिका निभानी होगी।’’
इलेक्ट्रिक मोबिलिटी विशेषज्ञ सौरभ कुमार ने सरकार द्वारा इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिये चलायी जा रही योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘आने वाले कुछ समय के दौरान हम यह देखेंगे कि पब्लिक ट्रांसिट सेक्टर रिन्यूएबल एनर्जी सेक्टर बन जाएगा, जहां आप यह उम्मीद कर सकते हैं कि 2 लाख डीजल बसें इलेक्ट्रिक बसों में बदल जाएगी। इस साल अगस्त में भारत में उतनी ही इलेक्ट्रिक गाड़ियों की खरीद-फरोख्‍त हुई जितनी कि पिछले साल बेची गई थीं। सार्वजनिक परिवहन के माध्‍यमों से लगभग पांच करोड़ लोग रोजाना सफर करते हैं। सरकार इलेक्ट्रिक मोबिलिटी को बढ़ावा देने के लिए काफी काम कर रही है। अगर आप देखे तो वर्ष 2017 के पहले इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के बारे में बहुत कम लोग जानते थे लेकिन उसके बाद सरकार द्वारा इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए बनाई गई अच्छी नीतियों के कारण इन वाहनों की लोकप्रियता बढ़ती जा रही है। यह सही है कि सरकार काफी कम कर रही है लेकिन निश्चित रूप से अभी इसमें और भी काम करना बाकी है। देश में जिस तरह का इकोसिस्टम बन रहा है उसके मद्देनजर इस क्षेत्र में अनंत संभावनाएं हैं।
भारत में अब इलेक्ट्रिक मोबिलिटी का इकोसिस्टम बढ़ रहा है। वर्ष 2021 में इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) पंजीकरण में 2020 की तुलना में 168% की भारी वृद्धि दर्ज की गई। भारत सरकार जीवाश्म ईंधन पर देश की निर्भरता को कम करने और ईवी को आंतरिक दहन इंजन (आइस) के प्राथमिक विकल्प के रूप में रखने के लिए विभिन्न कदम उठा रही है। मगर देश में ई-मोबिलिटी को बड़े पैमाने पर अपनाने के लिए अब भी बहुत कुछ करने की जरूरत है।
केंद्र और कई राज्य सरकारों द्वारा दिया जा रहा प्रोत्साहन ईवी को बढ़ावा देने वाले प्रेरक कारकों में से एक है, जो ईवी स्टार्टअप के लिए बूस्टर के रूप में कार्य कर रहा है। कंपनियां अनुसंधान एवं विकास, प्रौद्योगिकी एकीकरण, परीक्षण और विस्तार को बढ़ाने के लिए भी धन जुटा रही हैं। निवेश को बढ़ावा देने वाले अन्य कारक भी हैं। जैसे- एफडीआई के माध्यम से 100% स्वामित्व की संभावना, सतत गतिशीलता के बारे में बढ़ती जागरूकता आदि।
एक सहायक नीति आधारित माहौल अधिक निवेश आकर्षित करने और ईवी बाजार के विकास में सहायता कर रहा है। भारत में फास्टर एडॉप्शन एंड मैन्युफैक्चरिंग ऑफ हाइब्रिड एंड ईवी (फेम-2) योजना के दूसरे चरण से ईवी क्षेत्र में निवेश में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।

वन्यजीवों की तस्करी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़

वन्यजीवों की तस्करी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ 

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। प्रयागराज में वन्य जीवों की तस्करी करने वाले गिरोह का बृहस्पतिवार को भंडाफोड़ हो गया। 
पुलिस ने तीन तस्करों को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से प्रतिबंधित प्रजाति के 500 तोते बरामद किए गए। गिरफ्तार किए गए तीनों तस्करों से पूछताछ की जा रही है। 
पकड़े गए लोग मस्तान मार्केट करेली से प्रतिबंधित प्रजाति के तोतों को खरीद कर तस्करी के लिए बिहार समेत अन्य राज्यों में ले जा रहे थे। 
उनके पास से अर्टिगा कार भी बरामद की गई। गिरफ्तार किए गए लोगों में इंजमाम, मोहम्मद आसिफ और मोहम्मद वसीम शामिल हैं। तीनों आसनसोल पश्चिम बंगाल के रहने वाले हैं।

लेखपाल की पिटाई करने वाला दरोगा लाइन हाजिर

लेखपाल की पिटाई करने वाला दरोगा लाइन हाजिर 

संदीप मिश्र 
भदोही। लेखपाल की जमकर पिटाई करते हुए उसे अचेत कर खुद को तुर्रम खान समझने वाले दरोगा आक्रोशित लेखपालों द्वारा सड़क जाम किए जाने के बाद कार्यवाही का शिकार हो गए हैं। पुलिस अधीक्षक ने लेखपाल की पिटाई के आरोपी दारोगा को लाइन में हाजिर होने का फरमान जारी किया है। 
बृहस्पतिवार को पुलिस अधीक्षक डॉक्टर मीनाक्षी कात्यायन द्वारा लेखपाल की पिटाई के मामले में की गई बड़ी कार्यवाही के अंतर्गत दुर्गागंज के प्रभारी निरीक्षक विनोद दुबे को लाइन हाजिर कर दिया है। पुलिस अधीक्षक द्वारा लेखपाल की पिटाई के मामले की जांच के लिए मजिस्ट्रेट एवं पुलिस की टीम का गठन किया गया है।
उल्लेखनीय है कि दुर्गागंज थाना क्षेत्र के शेरपुर कोपलहां गांव में रहने वाले गोदना गांव के लेखपाल शैलेश पांडे बुधवार की दोपहर अपने घर की तरफ आ रहे थे। इसी दौरान दुर्गागंज थाना पुलिस इलाके के दमघगा गांव में जमीन विवाद के मामले की जांच करने गई थी। आरोप है कि इस दौरान पुलिस के जवान जब एक महिला को पीट रहे थे तो लेखपाल ने हस्तक्षेप करते हुए महिला की पिटाई से मना किया था और महिला पुलिस बुलाने की मांग करते हुए लेखपाल ने वीडियो बनानी शुरू कर दी थी।
अपनी वीडियो बनती हुई देखकर आप खो बैठी पुलिस ने लेखपाल की पिटाई कर दी थी और उसे थाने पर लाया गया था। आरोप है कि थाने में पकडकर लाये गये लेखपाल की थानेदार द्वारा जमकर पिटाई की गई जिससे वह बेहोशी के हालात में पहुंच गए। आनन फानन में ले जाकर पुलिस द्वारा लेखपाल को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से गंभीर हालते चलते लेखपाल को जिला अस्पताल और उसके बाद वाराणसी रेफर कर दिया गया था। लेखपाल की पिटाई के मामले के बाद गुस्साए लेखपालों ने दुर्गागंज त्रिमुहानी पर सड़क को अवरोध करते हुए जाम लगा दिया था।मौके पर पहुंचे एसडीम ज्ञानपुर मानसिंह के समझाने पर घंटे की मशक्कत के बाद माने लेखपालों द्वारा रास्ता खोल दिया गया था। उधर अस्पताल में भर्ती लेखपाल की हालत अभी गंभीर बनी हुई है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  


1. अंक-325, (वर्ष-06)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. शुक्रवार, सितंबर 8, 2023

3. शक-1944, भाद्रपद, कृष्ण-पक्ष, तिथि-नवमी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:22, सूर्यास्त: 07:06।

5. न्‍यूनतम तापमान- 25 डी.सै., अधिकतम- 38+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

25 मई को खुलेंगे 'हेमकुंड साहिब' के कपाट

25 मई को खुलेंगे 'हेमकुंड साहिब' के कपाट पंकज कपूर  देहरादून। हेमकुंड साहिब के कपाट आगामी 25 मई को खोले जाएंगे। इसके चलते राज्य सरका...