शनिवार, 21 अक्तूबर 2023

माता महागौरी को समर्पित 'नवरात्रि' का आठवां दिन

माता महागौरी को समर्पित 'नवरात्रि' का आठवां दिन

सरस्वती उपाध्याय 
नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। आदिशक्ति श्रीदुर्गा का अष्टम रूप श्री महागौरी हैं। मां महागौरी का रंग अत्यंत गौर वर्ण है इसलिए इन्हें महागौरी के नाम से जाना जाता है। मान्यता के अनुसार अपनी कठिन तपस्या से मां ने गौर वर्ण प्राप्त किया था। तभी से इन्हें उज्जवला स्वरूपा महागौरी, धन ऐश्वर्य प्रदायिनी, चैतन्यमयी त्रैलोक्य पूज्य मंगला, शारीरिक मानसिक और सांसारिक ताप का हरण करने वाली माता महागौरी का नाम दिया गया।

मां महागौरी का स्वरूप
श्वेत वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बरधरा शुचि:। महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा॥

अर्थ - मां दुर्गा का आठवां स्वरूप है महागौरी का। देवी महागौरी का अत्यंत गौर वर्ण हैं। इनके वस्त्र और आभूषण आदि भी सफेद ही हैं। इनकी चार भुजाएं हैं। महागौरी का वाहन बैल है। देवी के दाहिने ओर के ऊपर वाले हाथ में अभय मुद्रा और नीचे वाले हाथ में त्रिशूल है। बाएं ओर के ऊपर वाले हाथ में डमरू और नीचे वाले हाथ में वर मुद्रा है। इनका स्वभाव अति शांत है। इनकी आयु आठ वर्ष की मानी हुई है।

पूजन का महत्व
आदि शक्ति देवी दुर्गा के आठवें स्वरूप की पूजा करने से सभी ग्रहदोष दूर हो जाते हैं। मां महागौरी का ध्यान-स्मरण, पूजन-आराधना से दांपत्य सुख, व्यापार, धन और सुख-समृद्धि बढ़ती है। मनुष्य को सदैव इनका ध्यान करना चाहिए,इनकी कृपा से आलौकिक सिद्धियों की प्राप्ति होती है। ये भक्तों के कष्ट जल्दी ही दूर कर देती हैं एवं इनकी उपासना से असंभव कार्य भी संभव हो जाते हैं। ये मनुष्य की वृतियों को सत्य की ओर प्रेरित करके असत्य का विनाश करती हैं। भक्तों के लिए यह देवी अन्नपूर्णा का स्वरूप हैं इसलिए अष्टमी के दिन कन्याओं के पूजन का विधान है। ये धन, वैभव, अन्न-धन और सुख-शांति की अधिष्ठात्री देवी हैं।

पूजन विधि
अष्टमी तिथि के दिन प्रात:काल स्नान-ध्यान के पश्चात महागौरी की पूजा में श्वेत, लाल या गुलाबी रंग के वस्त्र धारण करें एवं सर्वप्रथम कलश पूजन के पश्चात मां की विधि-विधान से पूजा करें। देवी महागौरी को चंदन, रोली, मौली, कुमकुम, अक्षत, मोगरे का फूल अर्पित करें व देवी के सिद्ध मंत्र श्री क्लीं ह्रीं वरदायै नम: का जाप करें। माता के प्रिय भोग हलवा-पूरी,चना एवं नारियल का प्रसाद चढ़ाएं। फिर 9 कन्याओं का पूजन कर उन्हें भोजन कराएं। माता रानी को चुनरी अर्पित करें।  सुख-समृद्धि के लिए घर की छत पर लाल रंग की ध्वजा लगाएं।

मां महागौरी का प्रिय पुष्प
मां महागौरी को पूजा के दौरान सफेद, मोरपंखी या पीले रंग का पुष्प अर्पित करना चाहिए। ऐसे में मां दुर्गा को चमेली व केसर का फूल अर्पित किया जा सकता है।

मां महागौरी का वंदना मंत्र

श्वेते वृषे समरूढा श्वेताम्बराधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा।।

सीएम नीतीश ने ही पीठ में छुरा भोंका: मोदी

सीएम नीतीश ने ही पीठ में छुरा भोंका: मोदी 

अविनाश श्रीवास्तव 
पटना। बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने आज कहा कि भाजपा ने नहीं, बल्कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ही पीठ में छुरा भोंका और जनादेश से विश्वासघात किया इसलिए अब हमें उनकी आवश्यकता नहीं है। PM मोदी ने शुक्रवार काे बयान जारी कर कहा कि वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव में जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को 44 और भाजपा को उससे ज्यादा 75 सीटें मिलने के बाद भी चुनाव-पूर्व वादे का पालन करते हुए श्री नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाना क्या ‘पीठ में छुरा भोंकना’ है ? 
उन्होंने कहा कि श्री नीतीश कुमार का जनाधार लगातार घट रहा है। उनके नेतृत्व में जदयू को 2010 में 115 , 2015 में 75 भाजपा सांसद ने कहा कि यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जदयू के लिए भी वोट न मांगे होते, तो पार्टी की हालत और खराब होती। इसका आभार मानने के बजाय जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह रोज प्रधानमंत्री और भाजपा को कोस रहे हैं। उन्होंने कहा कि लोग देख रहे हैं कि किसने किसकी पीठ में छुरा भोंका और किसने पलटी मारी। जदयू पं मोदी ने कहा कि क्या नीतीश कुमार इतने कमजोर हो गए हैं कि चिराग पासवान उनकी पार्टी को 44 सीट पर उतार दे। उन्होंने कहा कि किसी पर आरोप लगाने से पहले जदयू को अपनी जमीन देखनी चाहिए। भाजपा सांसद ने कहा कि पिछले साल विधानसभा के तीन में से दो उपचुनाव भाजपा ने जीते और मोकामा में पार्टी 60 हजार वोट पाकर दूसरे स्थान पर रही। श्री नीतीश कुमार अपना वोट ट्रांसफर नहीं करा पाए। उन्होंने कहा कि श्री उपेंद्र कुशवाहा, श्री आरसीपी सिंह और श्री जीतनराम मांझी ने जदयू का साथ छोड़ दिया। उनके दर्जन-भर नेता भाजपा में आए, लेकिन भाजपा छोड़ कर कोई नहीं गया। उन्होंने कहा कि जब श्री नीतीश कुमार की पार्टी विलय या विघटन के कगार पर खड़ी है, तब भाजपा को उनकी कोई आवश्यकता नहीं है।

फिल्म 'स्टारफिश' का फर्स्ट लुक रिलीज

फिल्म 'स्टारफिश' का फर्स्ट लुक रिलीज 

कविता गर्ग 
मुंबई। अभिनेत्री खुशाली कुमार की आने वाली फिल्म 'स्टारफिश' का फर्स्ट लुक रिलीज हो गया है।
फिल्म स्टारफ़िश अखिलेश जयसवाल द्वारा निर्देशित और भूषण कुमार, कृष्ण कुमार और ऑलमाइटी मोशन पिक्चर द्वारा निर्मित है। इस फिल्म में मिलिंद सोमन,एहान भट्ट ,तुषार खन्ना के साथ खुशाली कुमार मुख्य भूमिका में हैं।
खुशाली इस फिल्म में तारा की भूमिका निभा रही हैं। मिलिंद सोमन ने अर्लो का किरदार निभाया है, जो स्पिरिचुअल गुरु हैं।यह फिल्म 24 नवंबर 2023 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी।

26 अक्टूबर को मुजफ्फरनगर आएंगे जयंत

26 अक्टूबर को मुजफ्फरनगर आएंगे जयंत 

भानु प्रताप उपाध्याय 
मुजफ्फरनगर। राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष तथा राज्यसभा सांसद जयंत चौधरी 26 अक्टूबर को मुजफ्फरनगर में कईं कार्यक्रमों में शामिल होंगे। रालोद नेताओं ने उनके कार्यक्रम के लिए तैयारियां शुरु कर दी हैं।
रालोद विधानमंडल दल के नेता राजपाल बालियान और पुरकाजी से विधायक अनिल कुमार ने बताया कि जिले में 26 अक्तूबर को रालोद अध्यक्ष जयंत चौधरी खिलाड़ियों को सम्मानित करेंगे। तीन अलग-अलग जगहों पर कार्यक्रम तय है।
उन्होंने कहा कि एशियाई खेलों में जिले के बसेड़ा निवासी अर्जुन देशवाल, काकड़ा निवासी पुनीत और पुरबालियान निवासी किरण बालियान पदक जीतकर लौटे हैं। तीनों खिलाड़ियों को सम्मानित करने के लिए जयंत चौधरी जिले में आएंगे।

कांग्रेस ने 33 उम्मीदवारों को पहली सूची जारी की

कांग्रेस ने 33 उम्मीदवारों को पहली सूची जारी की

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली/जयपुर। कांग्रेस ने राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए शनिवार को अपने 33 उम्मीदवारों को पहली सूची जारी कर दी, जिनमें मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के नाम भी शामिल हैं। पार्टी की ओर से जारी उम्मीदवारों की सूची के अनुसार, गहलोत को उनके विधानसभा क्षेत्र सरदारपुरा से ही उम्मीदवार बनाया गया है। पायलट टोंक से चुनाव लड़ेंगे जहां से वह वर्तमान विधायक हैं। 
कांग्रेस ने विधानसभा अध्यक्ष सी.पी. जोशी को उनके वर्तमान निर्वाचन क्षेत्र नाथद्वार से उम्मीदवार बनाया है। बायतू से पूर्व मंत्री हरीश चौधरी और सवाई माधोपुर से दानिश अबरार को टिकट दिया गया है। कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति (सीईसी) ने गत बुधवार को राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों के चयन को लेकर चर्चा की थी। राजस्थान की सभी 200 विधानसभा सीट पर 25 नवंबर को मतदान होगा। मतगणना तीन दिसंबर को होगी।

पपीते के पत्तों का रस पीने के फायदे, जानिए

पपीते के पत्तों का रस पीने के फायदे, जानिए 

सरस्वती उपाध्याय 
पपीता पोषक तत्वों से भरा होता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि पपीता की पत्तियों के फायदे भी हमारे स्वास्थ्य के लिए चमत्कार कर सकते हैं। क्या आप पपीते के पत्ते के रस के फायदों के बारे में जानना चाहेंगे ? 
आपको बता दें पपीते के पत्तों का जूस कई बीमारियों के इलाज में इस्तेमाल किया जा सकता है। पपीता की पत्तियों में विटामिन ए, सी, ई, के, और बी की हाई मात्रा है, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद मानी जाती है। यहां पपीता के पत्तों का जूस पीने के शानदार फायदों के बारे में बताया गया है।

हेल्दी पाचन
ये जू, पाचन संबंधी लक्षणों जैसे गैस, सूजन और हार्ट बर्न को कम करने के लिए जाना जाता है। पपीते के पत्ते में फाइबर होता है, जो पाचन स्वास्थ्य का सपोर्ट करता है। यह प्रोटीन और अमीनो एसिड को पचाने के लिए बड़े प्रोटीन को छोटे टुकड़ों में तोड़ सकता है।

एंटी इंफ्लेमेटरी गुण
इस जूस का उपयोग मांसपेशियों में दर्द और जोड़ों के दर्द सहित आंतरिक और बाहरी स्थितियों की एक सीरीज के इलाज के लिए किया जाता है। एक अध्ययन में पाया गया कि पपीते का पत्ता अर्क गठिया के साथ पैरों की सूजन को काफी कम कर सकता है।
पपीते के पत्ते का जूस पीने से बालों की ग्रोथ को बढ़ावा मिल सकता है, लेकिन यह साबित करने वाले साक्ष्य बहुत सीमित हैं। इस एंटीऑक्सिडेंट से भरे जूस से ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने और बालों के विकास में सुधार की संभावना बढ़ जाती है।

डेंगू में फायदेमंद
पपीते के पत्तों के रस का सबसे अधिक उपयोग डेंगू के बुखार, थकान, सिरदर्द, मतली, त्वचा पर चकत्ते और उल्टी से राहत पाने के लिए किया जाता है। कुछ गंभीर मामलों में यह प्लेटलेट लेवल को ठीक कर सकता है।

डायबिटीज
डायबिटीज रगियों के लिए पपीते का जूस काफी लाभकारी माना जाता है। यह ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए किसी प्राकृतिक दवा के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

उत्तर प्रदेश का सबसे ठंडा जिला बना 'मेरठ'

उत्तर प्रदेश का सबसे ठंडा जिला बना 'मेरठ'

संदीप मिश्र 
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में सर्दी ने जोरदार दस्तक दी है। इस दौरान तापमान तेजी से गिरा है। सभी जिलों का अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस से लेकर 31 डिग्री सेल्सियस के बीच पहुंच गया है। जबकि न्यूनतम तापमान 20 से 22 डिग्री सेल्सियस के बीच चल रहा है।
वहीं, मेरठ पिछले एक हफ्ते से पूरे उत्तर प्रदेश का सबसे ठंडा जिला बना हुआ है। पिछले 24 घंटे के दौरान मेरठ में न्यूनतम तापमान 14 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है, जो कि इस साल का अब तक का सबसे कम तापमान है।
इसके अलावा कानपुर, मुरादाबाद और मुजफ्फरनगर में भी न्यूनतम तापमान 15 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। वहीं, अलीगढ़, झांसी, वाराणसी और प्रयागराज में भी न्यूनतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ।
लखनऊ मौसम केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक मोहम्मद दानिश ने बताया कि पिछले 24 घंटे के दौरान सर्दी ने पूरे प्रदेश में जोरदार दस्तक दी है। ठंडी हवाएं चलने की वजह से भी तापमान गिरा है। फिलहाल अधिकतम और न्यूनतम तापमान में रविवार तक ऐसी ही स्थिरता रहेगी। सोमवार से फिर से मौसम बदलने के आसार नजर आ रहे हैं. यानी तापमान एक से दो डिग्री सेल्सियस और गिर सकता है।फिलहाल मौसम की मॉनिटरिंग की जा रही है।

कई बीमारियों में लाभदायक है 'सिंघाड़ा'

कई बीमारियों में लाभदायक है 'सिंघाड़ा'

सरस्वती उपाध्याय 
नवरात्रि व्रत के दौरान फलाहार के लिए सिंघाड़े का सेवन किया जाता है। लेकिन सिंघाड़े का महत्व सिर्फ फलाहार तक ही सीमित नहीं है। सिंघाडे में मौजूद प्रोटीन, फाइबर, पोटेशियम और विटामिन बी6 जैसे पोषक तत्व इसे सेहत के लिए बेहद फायदेमंद बनाते हैं। सिंघाड़ा को ‘पानी फल’ भी कहा जाता है। इसके नियमित सेवन से शरीर में पानी की कमी दूर होने के साथ वेट लॉस और थायराइड को भी कंट्रोल करने में मदद मिलती है। आइए जानते हैं सिंघाड़ा खाने से सेहत को मिलते हैं कौन से गजब के फायदे और क्या है इसका सेवन करने का सही तरीका।

सिंघाड़ा खाने से मिलते हैं ये फायदे

थायराइड में फायदेमंद
सिघाड़े में मौजूद आयोडिन और मैंगनीज थायराइड की समस्या में फायदेमंद माने जाते हैं। सिघाड़े में मौजूद आयोडीन गले संबंधी रोगों से बचाव करता है। ऐसे में अगर आप थायराइड रोगी हैं, तो आपके लिए सिंघाड़े का सेवन फायदेमंद साबित हो सकता है।

डिहाइड्रेशन
सिघाड़े में पानी पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है। इसका सेवन करने से शरीर में डिहाइड्रेशन की समस्या दूर रहती है।

बालों की सेहत
सिंघाड़े का सेवन बालों की समस्या को दूर करके बालों की सेहत को बनाए रखने में मदद करता है। इसमें मौजूद लॉरिक एसिड बालों को मजबूत बनाने में मदद करता है।

वेट लॉस
अगर आप अपने बढ़ते वजन से परेशान हो चुके हैं तो सिंघाड़ा का सेवन आपके लिए बेस्ट ऑप्शन हो सकता है। सिघाड़े में बहुत कम मात्रा में कैलोरी होती है। जो बैली फैटी को कम करने में मदद कर सकता है। इसका सेवन आप नाश्ते के समय कर सकते हैं।

तनाव की छुट्टी
सिंघाड़ा एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है। इसका सेवन करने से वजन कम होने के साथ ऑक्सीडेटिव तनाव भी कम होता है। सिंघाड़ा का सेवन करने से शरीर एक्टिव बने रहने के साथ मेटॉबोलिज्म भी तेज बना रहता है। जिसकी मदद से व्यक्ति को तेजी से अपना वजन घटाने में मदद मिलती है।

वेट लॉस के लिए कैसे करें सिंघाड़े का सेवन?
वेट लॉस करना चाहते हैं तो सिंघाड़े को कच्चा नाश्ते में स्नैक के रूप में खा सकते हैं।
वजन घटाने के लिए सिघाड़े को सलाद के रूप में भी खाया जा सकता है।
सिंघाड़े को उबालकर उसका सेवन कर सकते हैं।
वजन घटाने के लिए सिंघाड़े को सुखाकर आटे में भी मिलाकर खाया जा सकता है।

पटाखे का विस्फोट, नाबालिग की आंख में लगी चोट

पटाखे का विस्फोट, नाबालिग की आंख में लगी चोट

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली‌। दिल्ली इलाके में अज्ञात व्यक्तियों द्वारा किए गए पटाखे के विस्फोट के कारण 11 वर्षीय लड़के की आंख में गंभीर चोट लग गई। एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। राष्ट्रीय राजधानी में पटाखों की बिक्री और फोड़ने पर प्रतिबंध है।
पुलिस के अनुसार, पूर्वोत्तर दिल्ली के शास्त्री पार्क निवासी एक लड़के को पटाखे से चोट लगने के संबंध में एम्स अस्पताल से एक सूचना और मेडिको-लीगल केस (एमएलसी) प्राप्त हुई थी। शुरुआती जांच में पता चला कि 15 अक्टूबर को रात करीब 8 बजे जब लड़का मेन रोड शास्त्री पार्क के पास अपने घर जा रहा था, तभी किसी अज्ञात व्यक्ति ने सड़क पर पटाखा फोड़ दिया।
पुलिस उपायुक्त (पूर्वोत्तर) जॉय टिर्की ने कहा, “लड़के की दाहिनी आंख में चोट लगी है। इस संबंध में विस्फोटक पदार्थों के संबंध में लापरवाही बरतने और जीवन को खतरे में डालने वाले कृत्य से चोट पहुंचाने का मामला दर्ज किया गया है।”डीसीपी ने कहा, “लड़के को इलाज के बाद 17 अक्टूबर को छुट्टी दे दी गई। उसके पिता का तीस हजारी कोर्ट के पास ट्रांसपोर्ट का कारोबार है।”
डीसीपी ने कहा, “अपराधी की पहचान करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इलाके में सीसीटीवी फुटेज को स्कैन किया जा रहा है।”

गगनयान मिशन का क्रू मॉडल सफलतापूर्वक लॉन्च

गगनयान मिशन का क्रू मॉडल सफलतापूर्वक लॉन्च 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (ISRO) ने गगनयान मिशन के क्रू मॉडल को सफलतापूर्वक लॉन्च कर लिया है। अंतरिक्ष एजेंसी को दूसरे प्रयास में सफलता मिली है। आज सुबह करीब 8:30 बजे इसकी कोशिश की गई तो तकनीकी करणों से इसा टालना पड़ गया। हालांकि, 10 बजे के करीब फिर प्रयास किया गया। और इसबार इसरो को सफलता मिली। गगनयान के पहले टेस्ट व्हीकल एबॉर्ट मिशन -1 (टीवी-डी1) को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से लॉन्च किया गया।
दूसरे परीक्षण से पहले इसरो ने बताया कि महत्वाकांक्षी गगनयान मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम से जुड़े पेलोड के साथ उड़ान भरने वाले परीक्षण यान में विसंगति का पता लगाकर उसे दूर कर दिया गया। इसरो ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर लिखा, ”प्रक्षेपण रोके जाने के कारण का पता लगा लिया गया है और उसे दुरुस्त कर दिया गया है।”
रॉकेट का प्रक्षेपण पहले सुबह आठ बजे के लिए निर्धारित था, लेकिन बाद में इसे दो बार कुल 45 मिनट के लिए टाला गया। इसरो प्रमुख एस. सोमनाथ ने इसके बाद बताया कि किसी विसंगति के कारण प्रक्षेपण तय कार्यक्रम के अनुसार नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि टीवी-डी1 रॉकेट का इंजन तय प्रक्रिया के अनुसार चालू नहीं हो सका था।
इस उड़ान में तीन हिस्से सिंगल स्टेज लिक्विड रॉकेट, क्रू मॉड्यूल (सीएम) और क्रू एस्केप सिस्टम (सीईएस) शामिल हैं। उड़ान के समय टेस्ट व्हीकल सीएम और सीईए को ऊपर ले जाएगा। फिर अबॉर्ट जैसी परिस्थिति बनाई जाएगी। अबॉर्ट का मतलब है, दिक्कत होने पर अंतरिक्ष यात्री को मॉड्यूल सुरक्षित वापस लाएगा। इस समय कैप्सूल की गति मैक 1.2 यानी 1431 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ान भरेगा। इसी गति में 11.7 किलोमीटर की ऊंचाई से सीईएस रॉकेट से 60 डिग्री पर अलग होगा। इसके बाद क्रू-मॉड्यूल और क्रू-एस्केप सिस्टम 594 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से 17 किलोमीटर ऊपर जाना शुरू करेगा। वहां पर दोनों सिस्टम अलग होंगे।
क्रू-मॉड्यूल जब सीईएस से अलग होगा, तब 16.6 किलोमीटर की ऊंचाई पर इसके छोटे पैराशूट खुल जाएंगे। जब कैप्सूल 2.5 किलोमीटर से कम ऊंचाई पर होगा, तब इसके मुख्य पैराशूट खुलेंगे। श्रीहरिकोटा से 10 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी में क्रू-मॉड्यूल की लैंडिंग होगी। वहां से उसे नौसेना रिकवर करेगी। वहीं सीईएस 14 किलोमीटर और टीवी बूस्टर छह किलोमीटर दूर समुद्र में गिरेंगे और डूब जाएंगे।

यूपी की लेडीज पुलिस ने अद्वितीय पराक्रम दिखाया

यूपी की लेडीज पुलिस ने अद्वितीय पराक्रम दिखाया

संदीप मिश्र 
लखनऊ। नवरात्रि के इस पावन अवसर पर, उत्तर प्रदेश की लेडीज पुलिस ने अद्वितीय पराक्रम दिखाया। यह एक महिला टीम ने एक बदमाश के साथ जोरदार मुठभेड़ में उसकी हरकतों का सामना किया और एनकाउंटर में उसे गिरफ्तार कर लिया। यह पहली बार हुआ है कि लेडीज पुलिस ने इस तरह की कार्रवाई की है, जो सामाजिक रूप से महत्वपूर्ण है। यूपी में हालांकि योगी आदित्यनाथ की सरकार के आने के बाद सुरक्षा के क्षेत्र में तेजी से सुधार हुआ है, और बदमाशों और माफिया के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जा रही है, लेकिन यह पहली बार है जब यूपी की लेडीज पुलिस ने एनकाउंटर का सामना किया है।
बता दें कि एसपी धवल जायसवाल के निर्देश पर बरवापट्टी थाने की महिला एसओ अपनी 4 महिला पुलिसकर्मियों के साथ मुठभेड़ में शामिल हुईं।लेडीज पुलिस के साथ एनकाउंटर में 25 हजार के इनामी इमामुल को गिरफ्तार किया गया।एनकाउंटर के दौरान इमामुल के पैर में गोली लगी है‌। बता दें कि गिरफ्तार बदमाश इमामुल पर कुशीनगर और संतकबीरनगर में दर्जनों मुकदमे दर्ज हैं। लेडीज पुलिस ने बदमाश इमामुल को रामकोला थाने के मेंहदीगंज में अमडरिया नहर के पास घेर लिया और एनकाउंटर के बाद धर दबोचा। जान लें कि नवरात्र में लेडीज पुलिस की तरफ से कुशीनगर में किया गया ये एनकाउंटर चर्चा का विषय बना हुआ है।
इस एनकाउंटर के बाद पुलिस ने इमामुल के पास एक अवैध देसी तमंचा और एक जिंदा कारतूस बरामद किया, जब उसे गिरफ़्तार किया गया। ये भी जान लीजिए कि लेडीज पुलिस ने यूपी में पहली बार एनकाउंटर किया और उसमें उन्हें कामयाबी भी मिली।पुलिस ने बदमाश इमामुल के पास अवैध देसी तमंचा और जिंदा कारतूस के साथ एक बाइक भी बरामद की है। पुलिस को गिरफ्तार करके उसको थाने ले जाया गया और फिर उससे पूछताछ की गई है। पुलिस ने कहा कि उन्हें लंबे वक्त से बदमाश इमामुल की तलाश थी और आखिरकार अब वो पकड़ा गया। महिला SHO के साथ मुठभेड़ में इनामी बदमाश घायल हुआ। वो जानवरों की तस्करी को अंजाम देता था‌।
इस कामयाबी के बाद, पुलिस विभाग ने लेडीज पुलिस की उपलब्धि को पहचाना है, और उन्हें सम्मानित किया जाएगा। ADG अखिल कुमार कुशीनगर द्वारा बरवापट्टी की एसएचओ सुमन सिंह और उनकी टीम को प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा, और स्वाट प्रभारी, SHO रामकोला, पड़रौना और खड़ड़ा भी प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा।

शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की

शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की

भानु प्रताप उपाध्याय 
मुजफ्फरनगर/शामली। जनपद मुजफ्फरनगर व शामली में आज स्मृति-दिवस पर शहीद पुलिसकर्मियों का स्मरण कर श्रद्धांजलि अर्पित की गई।
मुजफ्फरनगर में प्रत्येक वर्ष की तरह पुलिस स्मृति दिवस जनपदीय पुलिस लाइन में मनाया गया। पुलिस स्मृति दिवस के मौके पर सर्वप्रथम गार्द द्वारा विगत एक वर्ष में कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए अपने प्राणों की आहुति देने वाले पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों को सलामी दी गई।
उसके पश्चात एसएसपी संजीव सुमन ने आत्म बलिदान करने वाले पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी। 
एसएसपी ने बलिदान करने वाले पुलिस कर्मियों की शौर्य गाथा सुनाते हुए कहा कि कर्तव्य पालन में अपने प्राणों की आहूति देने वाले वीरों के पराक्रम से प्रदेश का सम्पूर्ण पुलिस बल गौरवान्वित है। कहा कि वह उनके परिवार को आश्वस्त करते हैं कि उत्तर प्रदेश पुलिस सदैव उनके साथ है।
एसएसपी संजीव सुमन, एसपी सिटी सत्यनारायण प्रजापत, एसपी देहात अतुल कुमार श्रीवास्तव, एसपी क्राइम प्रशान्त कुमार प्रसाद, एसपी ट्रैफिक कुलदीप सिंह, आईपीएस अधिकारी कल्पना सक्सेना सभी क्षेत्रों के सीओ, थाना प्रभारी और पुलिस अधिकारी तथा अन्य कर्मचारियों ने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए अपने प्राणों की आहुति देने वाले पुलिसकर्मियों को याद कर उन्हें पुष्प चक्र व पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि व शोक सलामी दी।
श्रद्धांजलि व शोक सलामी के पश्चात कर्तव्य पालन में आत्म बलिदान करने वाले वीर पुलिसकर्मियों की स्मृति में समस्त पुलिसकर्मियों ने 02 मिनट का मौन धारण किया। प्रतिसार निरीक्षक नदीम अहमद शामिल रहे।
एसएसपी के अनुसार स्व सन्दीप सिंह, आरक्षी नागरिक पुलिस जनपद प्रयागराज, स्व राघवेन्द्र सिंह, आरक्षी नागरिक पुलिस जनपद प्रयागराज और स्व भेदजीत सिंह, आरक्षी नागरिक पुलिस जनपद जालौन ने शहादत दी थी।
शामली जनपद की पुलिस लाइन में पुलिस स्मृति दिवस का आयोजन किया गया। इस मौके पर पुलिस अधीक्षक अभिषेक सहित अन्य पुलिस अधिकारीगण द्वारा शहीद हुए जवानों को पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई एवं शहीद हुए पुलिस जवानों की आत्मिक शांति के लिए गार्द द्वारा सलामी देते हुए 2 मिनट का मौन धारण किया गया।
पुलिस स्मृति दिवस हर वर्ष उन शहीद पुलिसकर्मियों की याद में मनाया जाता है, जो अपने कर्तव्यों का पूरी निष्ठा के साथ वहन करते हुए शहीद हो गये। इस मौके पर अपर पुलिस अधीक्षक ओ.पी. सिंह क्षेत्राधिकारी नगर श्यामवीर सिंह, क्षेत्राधिकारी कैराना अमरदीपय मौर्य, क्षेत्राधिकारी कार्यालय मनोज शर्मा, प्रतिसार निरीक्षक विक्रम सिंह सहित अन्य पुलिस अधिकारी कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  


1. अंक-335, (वर्ष-06)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. रविवार, अक्टूबर 22, 2023

3. शक-1944, आश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि-अष्टमी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:11, सूर्यास्त: 06:13।

5. न्‍यूनतम तापमान- 15 डी.सै., अधिकतम- 24+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

25 मई को खुलेंगे 'हेमकुंड साहिब' के कपाट

25 मई को खुलेंगे 'हेमकुंड साहिब' के कपाट पंकज कपूर  देहरादून। हेमकुंड साहिब के कपाट आगामी 25 मई को खोले जाएंगे। इसके चलते राज्य सरका...