रविवार, 16 मई 2021

चीन से 3600 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स की खेप पहुंची

नई दिल्ली/ बीजिंग। चीन से रविवार को 3600 से ज्यादा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स की खेप भारत पहुंची। यह देश में अब तक आई कंसंट्रेटर्स की सबसे बड़ी खेप है। एक साथ इतनी संख्या में कंसंट्रेटर्स अब तक देश में नहीं आए हैं। इनसे कोरोना मरीजों के उपचार में मदद मिलेगी, क्योंकि ऑक्सीजन की कमी के कारण आए दिन मौतें हो रही हैं।
एक साथ दिल्ली लाए गए 3600 कंसंट्रेटर्स का कुल वजन 100 टन से ज्यादा है। चीन के हांगझोऊ एयरपोर्ट से चीन का बोइंग 747 इन्हें लेकर आया। यह जंबो चार्टर विमान दोपहर बाद दिल्ली में उतरा। कंसंट्रेटर्स की यह खेप बेल्लोर लॉजिस्टिक्स ने बुलवाई है। इस आयात आर्डर को जल्दी पूरा करने में चीन के दूतावासों से भी मदद ली गई। 
बता दें, कि दिल्ली एनसीआर समेत समूचा देश भीषण कोरोना लहर से जूझ रहा है। महामारी के कारण देश में कंसंट्रेटर्स व अन्य जीवन रक्षक उपकरणों की मांग बढ़ गई है। रोजाना तीन लाख से अधिक मरीज मिलने के कारण ऑक्सीजन का संकट पैदा हो गया है। ऐसे में चीन समेत कई देशों से ये उपकरण आयात किए जा रहे हैं। आने वाले कुछ दिनों में चीन से ऐसी कुछ और खेप भारत आएंगी।

सीमा: संदिग्ध ड्रोन आसमान में उड़ता नजर आया

श्रीनगर। जम्मू में अंतराष्ट्रीय सीमा के पास एक संदिग्ध ड्रोन आसमान में उड़ता नजर आया। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने यह पता करने के लिए सघन तलाशी अभियान चलाया कि उसने भारतीय सीमा के अंदर कुछ गिराया तो नहीं है। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तलाशी में कुछ भी संदिग्ध नहीं पाया गया। दो दिन पहले ही एक पाकिस्तानी ड्रोन ने जम्मू कश्मीर के सांबा जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास एक एके 47 राइफल, एक पिस्तौल और कुछ अन्य हथियार गिराये थे। अधिकारियों ने बताया कि शनिवार देर रात यहां कनचक सेक्टर में एक संदिग्ध पाकिस्तानी ड्रोन आसमान में उड़ता नजर आया, कुछ स्थानीय निवासियों को कुछ देर तक आसामन में पीले रंग की धारी नजर आयी और फिर वह अंधेरे में गायब हो गयी। उन्होंने बताया कि रविवार सुबह करीब साढ़े पांच बजे सेना, सीमा सुरक्षा बल और पुलिस की संयुक्त टीम ने अंतरराष्ट्रीय सीमा से करीब डेढ़ किलोमीटर के दायरे में पंच तल्ली और लालियाल के विशाल क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया।

विधि-विधान के साथ कपाट खोलने का समारोह होगा

पंकज कपूर           
देहरादून। केदारनाथ के कपाट सोमवार सुबह 5 बजे खोल दिए जाएंगे। यहां पहली पूजा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से की जाएगी। कोविड-19 के कारण कपाटोद्घाटन के दौरान श्रद्धालु उपस्थित नहीं रह पाएंगे। तीर्थ पुरोहितों समेत सीमित लोगों की मौजूदगी में विधि-विधान के साथ कपाट खोलने का समारोह होगा। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने बाबा केदार के धाम के पट खुलने पर श्रद्धालुओं को शुभकामनांए देते हुए उनसे अपील की कि वे अपने घरों में रहकर ही पूजा अर्चना करें। पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने बताया कि देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड एवं मंदिर समितियों द्वारा चारों धामों में पहली पूजा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से जनकल्याण के लिए की जा रही हैं। वहीं मंगलवार 18 मई को चमोली में स्थित भगवान बदरीनाथ के कपाट सुबह सवा चार बजे ब्रहम मुहूर्त में खुल जाएंगे। कोविड के कारण यहां भी श्रद्धालुओं को आने की अनुमति नहीं होगी। इससे पहले 14 मई को यमुनोत्री और 15 मई को गंगोत्री के कपाट खोले गए थे।

मामलों की सुनवाई के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किएं

पंकज कपूर               

नैनीताल। उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने प्रदेश में कोरोना महामारी के कारण देहरादून समेत प्रदेश की सभी अधीनस्थ अदालतों में सोमवार से मामलों की सुनवाई के लिए नए दिशा निर्देश जारी किये हैं। देहरादून में कोरोना महामारी के व्यापक प्रभाव को देखते हुए वहां वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सिर्फ आवश्यक मामलों की सुनवाई के निर्देश जारी किये गये हैं। रविवार को रजिस्ट्रार जनरल की ओर से जारी की गई अधिसूचना के अनुसार देहरादून जनपद की अधीनस्थ अदालतों में केवल रिमांड, जमानत ताजा एवं लंबित, अस्थायी निषेधाज्ञा संबंधी प्रार्थना पत्रों और असाधारण परिस्थितियों में उत्पन्न होने वाले अति आवश्यक मामलों पर ही अगले आदेश तक सुनवाई हो सकेगी। अति आवश्यक मामले की सुनवाई के लिये अधिवक्ताओं को पहले संबद्ध अदालतों को सूचित करना होगा। इसके अलावा प्रदेश के अन्य जिलों की अधीनस्थ अदालतों के लिये दिशा निर्देश जारी किये गये हैं। जिनमें अगले आदेश तक सिर्फ रिमांड और सभी जमानत प्रार्थना पत्रों ताजा एवं लंबित, सम्पत्ति के रिहाई संबंधी मामलों, आपराधिक संहिता प्रक्रिया,1973 की धारा 156 (3) के तहत आने वाले मामलों, अस्थायी निषेधाज्ञा, अंतरिम राहत संबंधी मामलों, उत्तराधिकार प्रमाण पत्र जारी करने संबंधी आवेदनों, हिन्दू विवाह अधिनियम,1955 की धारा 13बी के तहत आने वाले मामले, विवादों के निपटारों के लिये समझौता आवेदन पत्रों, पुलिस जांच से संबंधी मामलों के अलावा असाधारण परिस्थितियों में उत्पन्न होने वाले अत्यावश्यक मामलों पर सुनवाई हो सकेगी। सभी अदालतों में वीडियो कान्फ्रेंसिंग से सुनवाई होगी। जारी अधिसूचना में यह भी कहा गया है कि उच्च न्यायालय के निर्देशों के अनुपालन के लिये जिला न्यायाधीश एवं परिवार न्यायालयों के संबंध में प्रधान न्यायाधीश अधिसूचना के अनुरूप उचित निर्णय ले सकेंगे।

संक्रमण: जम्मू-कश्मीर में 24 तक बढ़ाया लॉकडाउन

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस के मामलों में खतरनाक वृद्धि के कारण किएं गए लॉकडाउन को रविवार को 18 दिन हो गए। जिससे केंद्र शासित प्रदेश के अधिकांश क्षेत्रों में सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा। अधिकारियों के अनुसार जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने शनिवार को लॉकडाउन को 24 मई तक के लिए बढ़ा दिया। अधिकारियों ने कहा कि लोगों के आने-जाने और इकट्ठा होने पर प्रतिबंध रविवार को भी जारी रहा, हालांकि प्रतिबंध सख्त नहीं थे। उन्होंने बताया कि बाजार बंद रहे और सार्वजनिक परिवहन सड़कों से नदारद रहा। अधिकारियों ने बताया कि हालांकि, यहां शहर के कुछ इलाकों और घाटी और जम्मू क्षेत्र के अन्य जिला मुख्यालयों में निजी कारें चलती देखी गईं।

गाजियाबाद: 24 घंटे में 273 रिपोर्ट्स पॉजिटिव मिलीं

अश्वनी उपाध्याय               

गाज़ियाबाद। जिलें में पिछले 24 घंटों की अवधि में 273 रिपोर्ट्स पॉज़िटिव मिली तो गौतमबुद्ध नगर में संक्रमितों संख्या 377 रही। पिछले कुछ दिनों के मुक़ाबले यह संख्या लगभग आधी है। जिलें में 24 घंटों की अवधि में 790 व्यक्तियों ने संक्रमण को मात दी और गौतम बुद्ध नगर में 812 मरीजों ने कोरोना पर विजय पाई।  गाज़ियाबाद में संक्रमण से 7 और गौतम बुद्ध नंबर में 4 संक्रमितों की मौतें दर्ज की गई। मेरठ जिले में 24 घंटों की अवधि में 701 नए संक्रमित मिले और 1953 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। यहाँ 27 मरीजों की मृत्यु के बाद सक्रिय संक्रमितों की संख्या 11769 हो गई है।

सीएम योगी ने टीकाकरण शिविर का निरीक्षण किया

अश्वनी उपाध्याय                  

गाजियाबाद। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना के खिलाफ लड़ी गई जंग की समीक्षा कर उसे और अधिक आक्रामक बनाने के उद्देश्य से रविवार सुबह नोएडा पहुंचे और उन्होंने मीडियाकर्मियों के लिए लगाए गए टीकाकरण शिविर का निरीक्षण किया। सीएम सुबह 10:30 बजे अपने विशेष विमान से गाजियाबाद के हिंडन एयरपोर्ट पहुंचे। वहां से वह हेलिकॉप्टर के जरिए नोएडा के बॉटनिकल गार्डन पहुंचे। यहां पहुंचते ही सीएम सबसे पहले सेक्टर 6 इंदिरा गांधी कला केंद्र में लगे वेक्सीनेशन सेंटर का हाल देखा। यहां से निकलने के बाद सीएम सेक्टर-16 ए फिल्म सिटी स्थित एनआरसीसी पहुंचे जहां उन्होंने अधिकारियों और जन प्रतिनधियों के साथ बैठक की।

प्रयागराज: ओमानन्द के द्वारा आयोजित हुआ, भंडारा

बृजेश केसरवानी           
प्रयागराज। त्रिवेणी बांध स्थित हंडिया योगलय में ब्रम्हलीन स्वामी सदानन्द सरस्वती का षोडशी भंडारा उनके गुरुभाई स्वामी ओमानन्द सरस्वती के द्वारा आज प्रातः 11 बजे से आयोजित किया गया। लॉक डाउन तथा कोरोना महामारी प्रोटोकॉल को ध्यान में रख कर समस्त आयोजन सामाजिक दूरी, मास्क आदि के तहत सम्पन्न हुआ। ज्ञातव्य है कि स्वामी सदानन्द सरस्वती हंडिया बाबा परम्परा की तीसरी पीढ़ी तथा स्वामी विष्णु देवानन्द सरस्वती के शिष्य थे।
आयोजक स्वामी ओमानन्द सरस्वती ने बताया कि ब्रम्हलीन गुरु भाई एक सिद्ध योगी होने के कारण कई देशों की आध्यात्मिक यात्रा कर चुके थे। 
भंडारे में स्वामी गोविंदानन्द ,स्वामी भजनानन्द , स्वामी सर्वानन्द ,महंत शीला देवी, फूल चन्द्र दुबे ,स्याम सूरत पांडेय , राजेन्द्र तिवारी दुकान , राज कुमार चौरसिया , रवि वर्मा , श्रवण दुबे , अंकित वर्मा,
डी पी श्रीवास्तव, शिल्लु गिरी, पारस, अमित आलोक पांडेय , शैलेश जायसवाल, धर्मेंद्र आदि प्रमुख रूप से उपस्थित होकर श्रद्धा सुमन अर्पित किया।

'गंगा' में युवक का तैरता शव, चिंता जाहिर की

अतुल त्यागी               
हापुड़। मामला गढ़मुक्तेश्वर कोतवाली क्षेत्र के मोहल्ला आर्य नगर का है। जहां से दो दोस्त एक युवक को घर से बुलाकर ले गए थे। लेकिन समय से घर पर नहीं पहुंचने पर परिजनों को चिंता जताईं। परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने दोनों युवकों को हिरासत में लेकर गहराई से पूछताछ की तो सारा सच सामने आ गया। लगातार तीन दिन से गोताखोर और पुलिस लापता युवक के परिजनों के साथ गंगा में तलाश कर रही थी। आज युवक का गंगा में तैरता हुआ शव मिला। पुलिस अब परिजनों की तहरीर पर क्या कार्रवाई करती है ?

आक्रोश बढा, तेजस्वी यादव लापता के पोस्टर लगाए

अविनाश श्रीवास्तव   

पटना। बिहार में भी कोरोना वायरस तेज़ी से बढ़ रहा है। इस कोरोना काल के चलते बाकी के राज्यों की ही तरह यहां भी ऑक्सीजन की कमी हो रही है। मरीज़ों को अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे, दवाओं की कालाबाजारी भी हो रही है, ऐसे समय मे लोगों के बीच उनके क्षेत्र के प्रतिनिधि नहीं होने पर लोगों में आक्रोश देखें को मिला। लोगों ने विधायक तेजस्वी यादव के लापता होने के पोस्टर्स लगा दिए।

जानकारी के अनुसार, कोरोना महामारी में अपने क्षेत्र की मुसीबातों का जायज़ा लेने विधायक नहीं पहुंचे जिसके बाद स्थानीय लोगों ने आक्रोश में आकर राघोपुर के विधायक और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के लापता होने के पोस्टर लगाकर विरोध करना शुरू कर दिया है। तेजस्वी यादव के साथ हाजीपुर के सांसद और लोजपा नेता पशुपति पारस के भी संसदीय क्षेत्र में नहीं रहने पर लोगों ने पोस्टर लगाकर विरोध जाहिर किया।

पोस्टर में विधायक के लापता होने की लिखी बात-
पोस्टर में लिखा गया है कि चुनाव जीतने के बाद दोनों माननीय अपने-अपने क्षेत्र से लापता हैं। कोरोनाकाल में भी इन लोगों को क्षेत्र की जनता का हाल-चाल पूछने की चिंता नहीं है। इन लोगों को यहां की जनता खोज रही है, जिन भाइयों को यह दोनों माननीय मिल जाए उन्हें 5100 रुपए इनाम दिया जाएगा। स्थानीय लोगों द्वारा चिपकाये गए पोस्टर के बाद सियासत शुरू हो गई है।

बीजेपी प्रवक्ता राम सागर सिंह ने साधा निशाना-
बीजेपी प्रवक्ता राम सागर सिंह का कहना है कि, जब भी बिहार में समस्या आती है, तेजस्वी यादव का गायब होना नई बात नहीं है। तेजस्वी सिर्फ ट्वीट करना जानते हैं। उन्हें अपने क्षेत्र के लोगों को कोई फिक्र नहीं है। यही कारण है कि ऐसे संवेदनशील मौके पर भी वो जनता से दूर हैं।

आरजेडी नेता ने किया बचाव-
क्षेत्र में तेजस्वी के पोस्टर चिपके होने की बात पर आरजेडी नेता मृत्युंजय तिवारी बच्छाव करते दिखे उन्होंने कहा कि, तेजस्वी यादव ने अपने सभी विधायकों को लोगों को मदद करने के लिए कहा है और सभी मदद के लिए जुटे हुए हैं। तेजस्वी अपने क्षेत्र के सभी लोगों का ख्याल रखे हुए हैं। हर कमी को पूरा कर रहे हैं।

पूर्व सांसद-विधायक का कोरोना संक्रमण से निधन

अविनाश श्रीवास्तव  
पटना। पूर्व विधायक एवं पूर्व राज्यसभा सांसद विजय सिंह यादव के निधन से राजनितिक गलियारों में शोक की लहर है। पूर्व सांसद विजय सिंह यादव के निधन पर बीजेपी ने शोक जताया है। बीजेपी ने ट्विटर पर इस बात की जानकारी दी है। बिहार बीजेपी ने ट्वीट कर लिखा कि "पूर्व सांसद विजय सिंह यादव जी को बिहार भाजपा परिवार की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि। उनके निधन से सामाजिक और राजनैतिक जगत को गहरा आघात लगा है। भगवान से उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करते हैं" पूर्व सांसद और दानापुर के नेता विजय सिंह यादव ने रविवार सुबह दम तोड़ दिया। वे पिछले कई दिनों से बीमार चल रहे थे। दानापुर के ही एक नर्सिंग होम में उन्हें भर्ती कराया गया था। रविवार सुबह कोरोना से जंग हार गए। पिछले साल उनके छोटे भाई राजकिशोर यादव की भी कोरोना से मौत हो गई थी। भाजपा नेता विजय सिंह यादव के निधन के बाद दानापुर में कार्यकर्ताओं के बीच शोक की लहर है।

पूर्व राज्यसभा सांसद एवं पूर्व विधायक विजय सिंह यादव के निधन पर हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने भी शोक जताया है। उन्होंने कहा कि विजय सिंह यादव जी के निधन से राजनीतिक एवं सामाजिक रूप से अपूरणीय क्षति हुई है। ईश्वर उनके आत्मा को शांति और परिजनों को दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करें। पूर्व सांसद विजय सिंह यादव साल 1996 में पहली बार भाजपा से दानापुर के विधायक चुने गए। इसके बाद विजय सिंह यादव 2000 में राज्यसभा के लिए बतौर सांसद चुने गए। तब से लगातार राजनीतिक में यह सक्रिय रहे हैं। वे भाजपा के अलावा राजद और कांग्रेस में भी रह चुके थे। पूर्व मुख्यमंत्री और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के भी कभी करीबी माने जाते थे।

3 ओलंपिक क्वालीफायर टूर्नामेंट रद्द करने पड़े

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। ओलंपिक से पहले टूर्नामेंटों में हिस्सा नहीं ले पाना भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों की बड़ी चिंता है लेकिन पीवी सिंधू के साथ ऐसा नहीं है जिन्हें कोरिया के अपने कोच पार्क तेइ सेंग पर विश्वास है कि वह उनके लिए ट्रेनिंग में ही मैच जैसी स्थिति तैयार करेंगे।कोविड-19 महामारी के कारण बैडमिंटन विश्व महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) को भारत, मलेशिया और सिंगापुर में बाकी बचे तीन ओलंपिक क्वालीफायर टूर्नामेंट रद्द करने के लिए बाध्य होना पड़ा।

जुलाई-अगस्त में होने वाले ओलंपिक से पहले ये तीनों अंतिम क्वालीफाइंग प्रतियोगिताएं थी। यह पूछने पर कि क्या प्रतियोगिताओं के रद्द होने से तैयारियों पर असर पड़ेगा, सिंधू ने कहा, ‘‘हम सोच रहे थे कि ओलंपिक से पहले सिंगापुर में आखिरी प्रतियोगिता होगी लेकिन अब हमारे पास और कोई विकल्प नहीं है इसलिए मैं अलग अलग खिलाड़ियों के खिलाफ मुकाबले खेल रही हूं और मेरे कोच पार्क ट्रेनिंग के दौरान मेरे लिए मैच जैसी स्थिति तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं।’’उन्होंने कहा, ‘‘अलग अलग खिलाड़ियों के खेलने की शैली अलग होती है जैसे ताइ जू यिंग या रतचानोक इंतानोन के खेलने की शैली अलग है लेकिन मेरे मार्गदर्शन के लिए पार्क मौजूद हैं जिससे कि मैं तैयारी कर सकूं।’’ सिंधू ने कहा, ‘‘बेशक हम एक दूसरे के खिलाफ कुछ महीनों के बाद खेलेंगे और हमारे खेल में कुछ नया होगा इसलिए मुझे इसके लिए तैयारी करनी होगी।’’ सिंधू ओलंपिक के लिए क्वालीफाई कर चुके अन्य भारतीय खिलाड़ियों के साथ ट्रेनिंग नहीं कर रही हैं।

वह तेलंगाना के गचीबाउली इंडोर स्टेडियम में ट्रेनिंग कर रही हैं और अपनी फिटनेस ट्रेनिंग सुचित्रा अकादमी में करती हैं। पच्चीस साल की इस खिलाड़ी ने टूर्नामेंटों को रद्द करने के बीडब्ल्यूएफ के फैसले का समर्थन करते हुए कहा कि यह दुखद है कि प्रतियोगिताएं नहीं खेली जा सकीं लेकिन खेल से अधिक महत्वपूर्ण जीवन है। सिंधू ने कहा, ‘‘यह दुखद है कि पूरी दुनिया थम सी गई है लेकिन खिलाड़ियों से पहले हम इंसान है और जीवन सबसे महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, ‘‘अगर टूर्नामेंट होते हैं तो हमें नहीं पता कि हम सुरक्षित होंगे या नहीं, हम सोच सकते हैं कि हम सुरक्षित होंगे लेकिन हम सुनिश्चित नहीं हो सकते क्योंकि हमें नहीं पता कि वायरस कहां से आ जाएगा।’’ गत विश्व चैंपियन सिंधू ने कहा कि ओलंपिक जैसी शीर्ष प्रतियोगिता में आयोजकों और खिलाड़ियों के लिए कोविड-19 से जुड़े नियमों का पालन करना मुश्किल काम होगा और सभी को इस चुनौती के लिए तैयार रहना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘‘सभी देशों के कोविड-19 से जुड़े अपने नियम हैं। थाईलैंड में प्रत्येक दूसरे या तीसरे दिन हमारा परीक्षण होता था, आल इंग्लैंड में साथ यात्रा करने वालों में एक मामला आने के बाद पूरे दल को टूर्नामेंट से हटना पड़ा लेकिन हमें ऐसी चीजों से निपटना होगा।’’ सिंधू ने कहा, ‘‘मैंने सुना है कि ओलंपिक में प्रत्येक दिन हमारा परीक्षण होगा। खेलने से पहले हमें आरटी-पीसीआर परीक्षण में नेगेटिव आना होगा और मैच के बाद दोबारा परीक्षण होगा, निश्चित तौर पर यह मुश्किल काम है।’’

इस साल की शुरुआत में अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन प्रतियोगिताओं में साइना नेहवाल और बी साई प्रणीत जैसे शीर्ष खिलाड़ियों को गलत पॉजिटिव नतीजों के कारण हटना पड़ा और सिंधू ने उम्मीद जताई कि ओलंपिक के दौरान ऐसा नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘‘यह ओलंपिक है और वहां इतने सारे देशों के इतने सारे खिलाड़ी होंगे लेकिन उन्हें काफी सतर्क भी रहना होगा। एक खिलाड़ी के रूप में हमें तैयारी करनी होगी और उम्मीद करनी होगी कि अगले कुछ महीनों में सब कुछ सही रहेगा।’’

दुनिया की सातवें नंबर की खिलाड़ी ने कहा, ‘‘जब तक आप अपना ख्याल नहीं रखते तब तक यह कभी भी फैल सकता है। इसलिए हालात मुश्किल हैं।’’सिंधू ने कहा, ‘‘इस साल अब तक प्रदर्शन अच्छा रहा है। एक खिलाड़ी के रूप में मैं सुधार कर रही हूं। मेरे कोच ने मेरे खेल का आकलन किया है इसलिए ओलंपिक को लेकर उत्सुक हूं। मेरे पिता ने भी मेरी काफी मदद की है।’’

लॉकडाउन को 24 मई तक बढ़ाने की घोषणा की

राणा ऑबरॉय  
चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने राज्य में कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम के लिए लॉकडाउन को 24 मई तक बढ़ाने की रविवार को घोषणा की। हरियाणा के गृह और स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने लॉकडाउन के बारे में ट्वीट कर बताया, ”महामारी अलर्ट-सुरक्षित हरियाणा 17 मई से 24 मई तक विस्तारित।” उन्होंने कहा कि राज्य में सख्त पाबंदी लागू की जाएगी।”विज ने पिछले रविवार को लॉकडाउन को 10 मई से 17 मई तक विस्तारित कर दिया था। कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान हरियाणा सरकार ने सबसे पहले तीन मई से 10 मई तक एक सप्ताह के लिए लॉकडाउन लगाया था।

सेनाओं को मिलें 110 मेडिकल चिकित्सा अधिकारी

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। सशस्त्र बल मेडिकल कॉलेज (एएफएमसी) के 55वें (सी3) बैच की 21 महिला कैडेट्स समेत 110 मेडिकल कैडेट्स शनिवार को चिकित्सा अधिकारी के रूप में तीनों सेनाओं का हिस्सा बन गए। 94 कैडेटों को भारतीय सेना, 10 को भारतीय वायु सेना में और छह कैडेट्स को भारतीय नौसेना में कमीशन किया गया। इन चिकित्सा अधिकारियों को एएफएमसी के कर्नल (प्रशिक्षण) कर्नल एके शाक्य ने भारत के संविधान के प्रति निष्ठा की शपथ दिलाई।
 
अपने कमीशनिंग संबोधन में एएफएमसी के कमांडेंट लेफ्टिनेंट जनरल नरदीप नैथानी ने नए कमीशंड अधिकारियों को एएफएमएस में शामिल होने के लिए बधाई दी। उन्होंने इन कैडेट्स की सफलता के लिए उनके अभिभावकों की सराहना की। उन्होंने कहा कि सी3 बैच को 2016 में एएफएमसी में प्रवेश मिला था जिसने 100 प्रतिशत सफलता के साथ स्नातक उत्तीर्ण किया है। यह अपने आप में एएफएमसी के शिक्षकों के प्रति सर्वश्रेष्ठ सम्मान है। कमांडेंट ने पूरे बैच को याद दिलाया कि वे ऐसे समय में चिकित्सा के पेशे से जुड़ रहे हैं जब देश कोविड के मुश्किल दौर से गुजर रहा है। 
 
उन्होंने आह्वान किया कि वे कोविड रोगियों की सर्वोत्तम संभव देखभाल करने के लिए प्रशिक्षण के दौरान मिले अपने ज्ञान और कौशल का उपयोग करें क्योंकि वे कोविड योद्धाओं के रूप में राष्ट्र की लड़ाई में शामिल हो रहे हैं। लेफ्टिनेंट जनरल नरदीप नैथानी ने विश्वास व्यक्त किया कि नए कमीशन प्राप्त चिकित्सा अधिकारी हमेशा वरिष्ठ सैन्य डॉक्टरों की अपेक्षाओं के उच्चतम मानकों पर खरा उतरेंगे।कोविड-19 से उत्पन्न हालात के मद्देनजर इस बार 1982 के बाद से पहली बार पासिंग आउट परेड का आयोजन नहीं किया गया।  
 
एएफएमसी के इस स्नातक बैच को कमीशन किए जाने की अवधि अब केवल दो सप्ताह कर दी गई है जो पहले चार से पांच सप्ताह हुआ करती थी। इन युवा डॉक्टरों को कोविड केयर सेंटर में काम करने के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया है। मेडिकल कैडेट्स ने अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए) सर्टिफाइड कोर्स इन बेसिक लाइफ सपोर्ट (बीएलएस) और एडवांस्ड कार्डियक लाइफ सपोर्ट (एसीएलएस) को भी पूरा किया है। कमीशन प्राप्त चिकित्सा अधिकारी देश भर के उन 31 एएफएमएस अस्पतालों में प्रशिक्षु के रूप में शामिल होने के लिए फौरन रवाना होंगे, जिन्हें सशस्त्र बलों के कर्मियों के साथ-साथ नागरिकों की कोविड देखभाल के लिए भी नामित किया गया है।
​​
लेफ्टिनेंट जनरल नरदीप नैथानी स्वयं इसी कॉलेज के 17वें (क्यू) बैच के छात्र रहे हैं। उन्होंने उत्कृष्ट उपलब्धियों और सर्वांगीण प्रदर्शन के लिए मेडिकल कैडेट्स को ट्राफियां, पदक और पुरस्कार भी प्रदान किए। सर्वश्रेष्ठ ऑल राउंड ग्रेजुएशन कैडेट के साथ-साथ एमबीबीएस कोर्स के दौरान सर्वश्रेष्ठ अकादमिक रिकॉर्ड के लिए मेडिकल कैडेट विनीता रेड्डी को कलिंग ट्रॉफी और राष्ट्रपति स्वर्ण पदक प्रदान किया गया। कॉलेज कैडेट के कैप्टन मेडिकल कैडेट सुयश सिंह ने दूसरे स्थान पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए मेजर जनरल एनडीपी करणी ट्राफी प्राप्त की। महिला कैडेट निकिता दत्ता को एमबीबीएस की अंतिम वर्ष की परीक्षा में टॉप करने के लिए लेफ्टिनेंट जनरल थापर गोल्ड मेडल से सम्मानित किया गया।

जुलाई के अंत तक 51.6 करोड़ वैक्सीन का उत्पादन

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शनिवार को कहा कि जुलाई के अंत तक देश में 51.6 करोड़ वैक्सीन की खुराक का उत्पादन हो सकेगा। उन्होंने कहा कि रूसी वैक्सीन स्पुतनिक के प्रयोग को मंजूरी दे दी गई है। इसके साथ जायडस कैडिला, सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की नोवैक्स, भारत बायोटेक की नेजल वैक्सीन और जीनोवा आरएनए जैसी वैक्सीन को मंजूरी देने  पर भी विचार किया जा रहा है। कुल मिलाकर इस साल अगस्त से दिसंबर तक देश में 216 करोड़ वैक्सीन की खुराक उपलब्ध होंगी।
 
डॉ. हर्षवर्धन ने शनिवार को वैक्सीन की उपलब्धता और इसके प्रबंधन को लेकर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और गुजरात के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की। इस मौके पर उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश में पिछले छह हफ्तों में कोरोना के मामलों में तेजी देखी गई। इस अवधि के दौरान पॉजिटिविटी रेट 2 प्रतिशत से बढ़कर 14 प्रतिशत हो गया है। लखनऊ और मेरठ में 14000 से ज्यादा एक्टिव मामले हैं। 
मध्यप्रदेश के 10 जिलों में 20 प्रतिशत पॉजिटिविटी रेट है। इस राज्य में एक लाख से ज्यादा कोरोना के एक्टिव मामले हैं। उत्तर प्रदेश और गुजरात में कोरोना से हुई मौत की संख्या अधिक हैं। उन्होंने बताया कि देश में हालांकि कोरोना के मामले घटे हैं लेकिन लोगों को इस बात से इतना आश्वस्त नहीं होना है कि वे फिर से ढिलाई बरतने लगे। मामलों में कमी आने के दौरान राज्य सरकार अपनी स्वास्थ्य व्यवस्था को और मजबूत करें।

सीएम खट्टर के विरोध में तोड़े, पुलिस के बैरिकेड

राणा ओबरॉय   
हिसार। देश में कोरोना का कहर जारी है वहीं हरियाणा में बेड की कमी को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने हिसार और पानीपत में 500 बेड का कोविड सेंटर बनाया जिसका उद्घाटन करने के लिए आज मनोहर लाल खट्टर हिसार में पहुंचे वहीं मुख्यमंत्री का विरोध करते हुए किसानों ने पुलिस के लगाए बैरिकेड को तोड़ दिया और रामायण टोल प्लाजा पहुंच गए।
बता दें कि किसानों ने हांसी बाईपास पर लगे बेरिकेड को तोड़ दिया और रामायण टोल प्लाजा जा पहुंचे। वहीं महम व जींद से भी किसान रामायण टोल व चंडीगढ़ की तरफ से आ रहे किसान बाडोपट्टी टोल पर पहुंच रहे हैं। इसके साथ ही किसान लांधड़ी टोल पर भी जमा होना शुरू हो गए हैं। तो वहीं पुलिस ने हांसी बाईपास, दिल्ली बाईपास, रामायण टोल, बरवाला बाईपास, बाडोपट्टी टोल प्लाजा, सिरसा टोल प्लाजा और जिंदल पुल के पास नाका लगाया है।

दूसरी ओर रामायण टोल पर किसानों की संख्या इस वक्त ज्यादा है। जिसके चलते वहां एसपी नितिका गहलोत पहुंच चुकी हैं। हालांकि स्थिति सामान्य है लेकिन किसान रामायण टोल पार कर हिसार में प्रवेश करने के प्रयास में कर रहे हैं

पूर्व भारतीय ऑलराउंडर क्रिकेटर जडेजा का निधन

नरेश राघानी  राजकोट। पूरा देश कोरोना की दूसरी लहर से जंग लड़ा रहा है। इस महामारी ने कई लोगों को अपनों से अलग कर दिया। अब खेल जगत से बड़ी खबर आ रही है। पूर्व भारतीय ऑलराउंडर राजेंद्र सिंह जडेजा कोरोना से जिंदगी की जंग हार गए हैं। उनके निधन से भारतीय क्रिकेट जगत सदमे में हैं। सौराष्ट्र के पूर्व तेज गेंदबाज और भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के रेफरी राजेंद्र सिंह जडेजा का कोविड-19 संक्रमण के कारण निधन हो गया। सौराष्ट्र क्रिकेट संघ (एससीए) ने रविवार को यह जानकारी दी। जडेजा 66 साल के थे।

एससीए ने बयान में कहा कि एससीए में सभी राजेंद्र सिंह जडेजा के असामयिक निधन से दुखी हैं जो सौराष्ट्र के अतीत के सबसे शानदार क्रिकेटरों में से एक थे। कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई लड़ते हुए रविवार सुबह उनका निधन हो गया। जडेजा दाएं हाथ के उम्दा तेज गेंदबाज होने के अलावा अच्छे आलराउंडर भी थे। उन्होंने 50 प्रथम श्रेणी और 11 लिस्ट ए मैचों में क्रमश: 134 और 14 विकेट चटकाए। उन्होंने इन दोनों फॉर्मेट में क्रमश 1536 और 104 रन भी बनाए। जडेजा 53 प्रथम श्रेणी, 18 लिस्ट ए और 34 टी20 मैचों में बीसीसीआई के आधिकारिक रैफरी भी रहे। वह सौराष्ट्र क्रिकेट संघ के चयनकर्ता, कोच और टीम मैनेजर भी रहे।

सीएम भूपेश से कोरोना के संबंध में विस्तृत चर्चा की

दुष्यंत टीकम           
रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आज रविवार को दूरभाष पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से प्रदेश में कोविड-19 के संबंध में विस्तृत चर्चा की। मुख्यमंत्री भूपेश बघले ने प्रधानमंत्री से कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए उनके और केन्द्र सरकार द्वारा समय-समय पर जारी दिशा-निर्देशोें का छत्तीसगढ़ द्वारा पूरा पालन किया जा रहा है। राज्य में टेस्टिंग की संख्या में बढ़ोतरी की गई है। ट्रेसिंग में भी तेजी आई है। पॉजिटिविटी दर में निरंतर कमी आ रही है। मरीजों की संख्या घट रही है।
प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष ध्यान दिया जा रहा है। जिन इलाकों में अभी भी केस बढ़ रहे हैं। वहां अतिरिक्त टीमें लगायी गई हैं। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री को यह भी जानकारी दी कि प्रदेश में शासकीय और निजी कोविड अस्पतालों और केयर सेंटरों के बेडों की पूरी जानकारी को आनलाईन किया गया है। ताकि कोई भी व्यक्ति आसानी से इनका लाभ ले सके। मुख्यमंत्री बघेल ने प्रधानमंत्री का राज्य में वैक्सीनेशन की कमी की ओर ध्यान आकृष्ट करते हुए पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध कराने का अनुरोध किया साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री से यह भी अनुरोध किया कि चूकि वर्तमान में आक्सीजन की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध है कि अतः 80 प्रतिशत अस्पतालों को और 20 प्रतिशत छोटे-मोटे उद्योगों को उपलब्ध कराने की मंजूरी दी जाए ताकि ये उद्योग भी अपना काम प्रारंभ कर सके। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की उक्त दोनो मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया है।

साइक्लोन: तेज बारिश की वजह से 4 लोगों की मौत

पणजी। अरब सागर से उठे चक्रवाती तूफान तौकते को लेकर कई राज्यों में अलर्ट जारी है। एक तरफ जहां कर्नाटक में साइक्लोन के बीच तेज बारिश की वजह से 4 लोगों की मौत हो गई और राज्‍य में कुल 73 गांव चक्रवाती तूफान से प्रभावित हुए हैं। वहीं, तौकते तूफान गोवा के तटीय क्षेत्र से भी टकरा गया है। पणजी में इसका असर देखा गया। गोवा में चक्रवाती तूफान से भारी नुकसान की खबर है। सड़कों पर कई जगह पेड़ गिर गए हैं। भारी पेड़ गिरने से सड़क किनारे खड़ी कार डैमेज हो गई है। गोवा के तट पर तेज हवाओं के साथ-साथ मूसलाधार बारिश भी हो रही है।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने चक्रवाती तूफान 'तौकते' के खतरे को देखते हुए एक ट्वीट किया है। उन्‍होंने ट्वीट करते हुए कहा, चक्रवात तौकते मज़बूत हो रहा है। सभी सुरक्षा नियमों का पालन करें। कांग्रेस साथियों से अपील है कि हर संभव सहायता करें।
महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने तटीय जिलों में अधिकारियों को सतर्क रहने का निर्देश दिया है। ठाकरे ने आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की बैठक में कहा कि पालघर, रायगढ़, रत्नागिरि, सिंधुदुर्ग जिलों के कलेक्टरों को सभी आवश्यक सावधानी बरतने को कहा गया है।
श्रीराम 'निर्भयपुत्र'

चक्रवात ‘तऊ ते’ की वजह से कई हिस्सों में तेज हवाएं

पणजी। चक्रवात ‘तऊ ते’ की वजह से गोवा के कई हिस्सों में रविवार को तेज हवाएं चलीं तथा भारी बारिश हुई। जिस वजह से बिजली के खंभे उखड़ गए और कई इलाकों में बिजली की आपूर्ति बाधित हुई। अधिकारियों ने बताया कि अब तक किसी के भी हताहत होने की खबर नहीं है। गोवा के ऊर्जा मंत्री नीलेश कैब्राल ने बताया कि तेज हवाएं चलने के कारण बिजली के खंभे उखड़ गए हैं जिस वजह से गोवा के अधिकतर इलाकों में बिजली चली गई है। उन्होंने कहा, “ बिजली के सैकड़ों खंभे टूट गए हैं। बिजली की आपूर्ति करने वाली 33 केवी की कई हाई टेंशन तारें पेड़ों के गिरने की वजह से प्रभावित हुई हैं। पड़ोसी महाराष्ट्र से गोवा में बिजली की आपूर्ति करने वाली 220 केवी की लाइनें भी प्रभावित हुई हैं।”

श्रीराम 'निर्भयपुत्र'

वायरस ने कई व्यक्तियो के जीवन को समाप्त किया

वीरेंद्र नेगी           

उत्तरकाशी। कोविड- 19 वायरस जो पुरे विश्व में अभी तक अपना कोहराम मचा रहा हैं। जिस वायरस ने कई व्यक्तियो की जीवन लीला को समाप्त भी कर दिया। इस कोविड- 19 से सभी देश अभी भी जूझ रहे हैं, कि कैसे इस वायरस से निजात पा सके ? भारत सरकार अपने देश कि जनता को इस कोविड 19के वायरस से कैसे बचाये व अर्थव्यवस्था को कैसे सुदृढ़ करे। वही भारत देश में भी इस कोविड-19 वायरस से बचने के लिए भारत सरकार भी आम जनता को हर समय जागरूक करती दिख रही थी व अभी भी जागरूक कर रही हैं। इसके उलट भारत सरकार से ऐसी क्या गलती हुई।जिससे भारत कि जनता लॉकडाउन के दूसरे साल में जा चुकी हैं। जिससे भारत कि जनता का मृत्यु दर अचानक पिछले साल के मुकाबले इस वर्ष ज्यादा बड़ गया।हालाँकि भारत सरकार इस बार पूरी ताकत के साथ कोविड-19 के विरुद्ध दिख रही हैं।

टिकट बनाने को लेकर यात्री-टीटीई में झड़प, मौत

हरिओम उपाध्याय            
लखनऊ। सिकंदराबाद से गोरखपुर जा रही ट्रेन में टिकट बनाने को लेकर यात्री और टीटीई में झड़प हो गई। दोनों के बीच काफी विवाद हुआ। यात्रियों ने बताया कि टीटीई ने चलती ट्रेन में यात्री वसंत (26) को ढकेल दिया। यात्री अनियंत्रित होकर ट्रेन से गिरा और उसकी मौके पर ही मौत हो गई। मामला बादशाहनगर रेलवे स्टेशन के पास बीती रात का है। यात्रियों ने टीटीई को पकड़कर पहले 112 पर डायल किया फिर उसे पुलिस के हवाले कर दिया। वहीं, मृतक के जीजा गोविंद ने चारबाग जीआरपी में टीटीई जय नारायण यादव के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। जीआरपी इंस्पेक्टर अंजनी कुमार मिश्रा ने बताया कि टीटीई के खिलाफ 304 का मामला दर्ज किया गया है।मामले की विवेचना की जा रही है। बता दें कि टीटीई की हरकत से नाराज यात्रियों ने हंगामा किया। आरोपी टीटीई को जेल भेज दिया गया है। जीआरपी इंस्पेक्टर ने बताया कि गोरखपुर के चौरी-चौरा निवासी गोविंद देवरिया के रहने वाले अपने साले वसंत (26) के साथ सिकंदराबाद से गोरखपुर जा रहे थे। ट्रेन बादशाहनगर पहुंची। इस बीच वसंत के टिकट को लेकर टीटीई जय नारायण यादव का विवाद हो गया। इस बीच ट्रेन बादशाहनगर से भी चल पड़ी थी। नोकझोंक और धक्कामुक्की के दौरान यह घटना हुई। मामले की पुलिस जांच कर रही है।

कोविड केयर सेंटर बनाने की तैयारी कर रहीं जैकलीन

कविता गर्ग               

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडीस कोविड केयर सेंटर बनाने की तैयारी कर रही हैं। कोरोना की दूसरी लहर में बॉलीवुड के कई सेलेब्रिटीज अपने-अपने तरीके से जरूरतमंद लोगों की मदद कर रहे हैं। जैकलीन फर्नांडीस भी कोरोना संकट के समय लोगों की मदद के लिये आगे आयी हैं। पिछले दिनों जैकलीन की कुछ फोटोज सामने आई थीं। जिसमें वह लोगों को खाना खिलाते नजर आ रही थीं। जैकलीन अब एक कोविड केयर सेंटर बनाने की तैयारी कर रही हैं। जैकलीन ने बताया, “हम लोग एक कोविड केयर फैसिलिटी सेंटर बनाने पर काम कर रहे हैं। इस सेंटर में 100 हॉस्पिटल बेड्स होंगे, हमारे पास 500 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स आ रहें और हम दो एम्बुलेंस भी खरीदने वाले हैं।

यूके: 2 मरीजों में ब्लैक फंगस के संक्रमण की पुष्टि

पंकज कपूर              

ऋषिकेश। एम्स में ब्लैक फंगस के दो केस मिले हैं। दोनों मरीज यूपी के रहने वाले हैं। एम्स के निदेशक प्रो. रविकांत ने दोनों मरीजों में ब्लैक फंगस के संक्रमण की पुष्टि की है। दोनों मरीज कोरोना संक्रमित हैं। जांच के दौरान दोनों मरीजों में ब्लैक फंगस के संक्रमण की पुष्टि हुई है। वहीं देहरादून के महंत इंदिरेश अस्पताल और अल्मोड़ा में भी ब्लैक फंगस का एक संदिग्ध मरीज सामने आया है। देहरादून के महंत इंद्रेश अस्पताल में ब्लैक फंगस का एक संदिग्ध मरीज सामने आया है। अस्पताल के डॉक्टरों ने मरीज की जांच कराई है। मरीज की जांच रिपोर्ट नहीं आई। इसलिए अस्पताल के डॉक्टर मरीज को संदिग्ध ब्लैक फंगस संक्रमित मानकर इलाज कर रहे हैं। अस्पताल के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी भूपेंद्र रतूड़ी ने बताया कि यह मरीज पहले किसी अन्य अस्पताल में कोरोना संक्रमण के चलते भर्ती हुए थे। उन्होंने खुद ही अस्पताल आकर आंखों में समस्या होने की बात कही है और ब्लैक फंगस होने का भी संदेह जताया है। डॉक्टरों ने लक्षणों के आधार पर मरीज की जांच कराई है। इसका इलाज भी लक्षणों के आधार पर किया जा रहा है। कोरोना के बाद अब ब्लैक फंगस की आहट भी शुरू होने लगी है। अल्मोड़ा जिले में बीमारी का संदिग्ध एक कोरोना संक्रमित मरीज मिला है। मरीज में रोग के लक्षण पाए जाने पर शनिवार को उसे हायर सेंटर रेफर कर दिया गया है। मरीज की आंख में सूजन के साथ-साथ सर दर्द की होने पर उसे हल्द्वानी रेफर किया गया है। मिली जानकारी के अनुसार अल्मोड़ा जिला निवासी एक डॉक्टर के 64 वर्षीय बुजुर्ग पिता की पिछले सप्ताह कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। जिसके बाद से उन्हें कोविड अस्पताल बेस में भर्ती कर दिया गया था। अस्पताल में उनका उपचार चल रहा था।

भारत: 24 घंटे में 3,11,170 नए मामलें सामने आएं

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में जारी गिरावट के बीच पिछले 24 घंटो के दौरान 3,11,170 नये मामले सामने आये हैं और इस महामारी से 4,077 लोगों की मौत हो गई है। देश में इस अवधि के दौरान 3,62,437 लोगों ने इस महामारी को मात दी है। जिससे रिकवरी दर बढ़कर 83.83 फीसदी हो गयी है। इस बीच 17 लाख 33 हजार 232 लोगों को कोरोना के टीके लगाये गये। देश में अब तक 18 करोड़ 22 लाख 20 हजार 164 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से रविवार की सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में तीन लाख 62 हजार 437 मरीज स्वस्थ हुए हैं। जिसे मिलाकर अब तक दो करोड़ 07 लाख 95 हजार 335 लोग कोरोना को मात दे चुके हैं। इस दौरान 3,26,098 नये मामले आने के साथ ही संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर दो करोड़ 43 लाख 72 हजार 907 हो गया।

दिल्ली में 1 सप्ताह के लिए बढ़ाया गया लॉकडाउन

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए लगाया गया लॉकडाउन एक सप्ताह के लिए और बढ़ा दिया गया है। कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए 17 मई को खत्म होने वाला लॉकडाउन अब 24 मई सोमवार सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा। इस दौरान नियमों में कोई नई छूट नहीं दी गई है। दिल्ली में 19 अप्रैल को लॉकडाउन लागू किया गया था और इसकी अवधि चौथी बार बढ़ा दी गई है।मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में लॉकडाउन का अच्छा असर देखने को मिल रहा है। केजरीवाल ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान दिल्ली में कोरोना संक्रमण तेजी से कम हो रहा है। लेकिन जो बढ़त दिल्ली ने बनाई है। हम नहीं चाहते हैं कि वो ख़त्म हो। इसलिए एक हफ़्ते लॉक डाउन बढ़ा रहे हैं।

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़कर रिकॉर्ड मूल्य पर पहुंचे

अकांशु उपाध्याय   
नई दिल्ली। पेट्रोल-डीजल के दाम रविवार को एक बार फिर बढ़कर नये रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गये। देश के चार बड़े महानगरों में पेट्रोल 24 पैसे तक और डीजल 29 पैसे तक महंगा हुआ। मुंबई में पेट्रोल 99 रुपये प्रति लीटर के करीब पहुंच गया है जबकि डीजल पहली बार 90 रुपये के पार निकल गया। अग्रणी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज पेट्रोल की कीमत 24 पैसे बढ़कर 92.58 रुपये और डीजल की कीमत 27 पैसे बढ़कर 83.22 रुपये प्रति लीटर हो गई। दिल्ली में इस महीने पेट्रोल 2.18 रुपये और डीजल 2.49 रुपये महंगा हो चुका है। मुंबई और कोलकाता में पेट्रोल 23-23 पैसे महंगा हुआ। एक लीटर पेट्रोल की कीमत मुंबई में 98.88 रुपये और कोलकाता में 92.67 रुपये रही। चेन्नई में यह 22 पैसे महंगा होकर 94.31 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया।
डीजल की कीमत मुंबई में 29 पैसे बढ़कर 90.40 रुपये, चेन्नई में 26 पैसे बढ़कर 88.07 रुपये और कोलकाता में 27 पैसे बढ़कर 86.06 रुपये प्रति लीटर हो गई। चारों महानगरों में दोनों जीवाश्म ईंधनों के दाम लगातार नयी रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच रहे हैं। पेट्रोल-डीजल के मूल्यों की रोजाना समीक्षा होती है और उसके आधार पर हर दिन सुबह छह बजे से नयी कीमतें लागू की जाती हैं।

कांग्रेस के पूर्व सांसद राजीव का संक्रमण से निधन

कविता गर्ग   
पुणे। कांग्रेस सांसद राजीव सातव का रविवार को पुणे के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। अस्पताल सूत्रों ने यह जानकारी दी। कुछ दिनों पहले ही वह कोविड-19 से उबरे थे। वह 46 वर्ष के थे। सातव की तबीयत बिगड़ने के बाद अस्पताल में उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। वह 22 अप्रैल को कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए थे। उन्होंने बताया कि सातव को बाद में एक नया वायरल संक्रमण हो गया था और उनकी हालत गंभीर थी। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उनके निधन पर दुख जताया और कहा कि यह उनके लिए बहुत बड़ी क्षति है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मैं अपने मित्र राजीव सातव के निधन से बहुत दुखी हूं। उनमें एक नेता के तौर पर असीम संभावनाएं थी और उन्होंने कांग्रेस के आदर्शों को आत्मसात कर लिया था। यह हम सभी के लिए बहुत बड़ी क्षति है। उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।’’
महाराष्ट्र से आने वाले सातव को पूर्व कांग्रेस प्रमुख राहुल गांधी का करीबी माना जाता था। वह गुजरात में पार्टी के मामलों के प्रभारी थे जहां पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने अच्छा मुकाबला किया था। कांग्रेस ने अपने आधिकारिक हैंडल से ट्वीट किया, ‘‘हम राज्यसभा सदस्य और हमवतन श्री राजीव सातव के निधन से बहुत दुखी हैं। राष्ट्र के प्रति उनके अटूट समर्पण और सादगी से पार्टी का कामकाज चलाने को काफी याद किया जाएगा। उनके परिवार, मित्रों तथा समर्थकों के प्रति हमारी संवेदनाएं हैं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें।’’

अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव के सी वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस ने अग्रिम मोर्चे के अपने योद्धा, कांग्रेस कार्यकारी समिति के सदस्य, सांसद और होनहार युवा नेता को खो दिया है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस अपूरणीय क्षति से बहुत आहत हूं। पार्टी उनके अटूट समर्पण, जुड़ाव और अपार लोकप्रियता को हमेशा याद रखेगी।’’

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा, ‘‘राजीव सातव के रूप में हमने अपना सबसे होनहार सहयोगी खो दिया। उनका दिल बेहद साफ था, वह ईमानदार, कांग्रेस के आदर्शों के प्रति पूरी तरह प्रतिबद्ध और भारत के लोगों के प्रति समर्पित थे। मेरे पास शब्द नहीं हैं, उनकी युवा पत्नी और बच्चों के लिए प्रार्थना करती हूं। ईश्वर उन्हें उनके बिना जीने की ताकत दें।’’

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि इस नुकसान से वह निशब्द हो गए हैं। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘आज एक ऐसा साथी खो दिया जिसने सार्वजनिक जीवन का पहला कदम युवा कांग्रेस में मेरे साथ रखा और आज तक मेरे साथ चले पर आज…राजीव सातव की सादगी, बेबाक मुस्कुराहट, जमीनी जुड़ाव, नेतृत्व और पार्टी से निष्ठा तथा दोस्ती सदा याद आएगी। अलविदा मेरे दोस्त। जहां रहो, चमकते रहो।’’

पार्टी नेता जयराम रमेश ने कहा, ‘‘मेरे युवा सहयोगी राजीव सातव का कोविड-19 संबंधी दिक्कतों के कारण निधन हो गया। वह युवा कांग्रेस के अध्यक्ष और साथ ही दोनों सदनों में सांसद रहे। वह एक ओजस्वी वक्ता थे और हमेशा अच्छी तैयारी करके आते थे। वह कांग्रेस के पुनरुद्धार के अभिन्न अंग थे। दुखद।’’

‘द असोसिएटेड प्रेस’ कार्यालय की इमारत ध्वस्त की

गाजा सिटी। इजराइल ने गाजा पट्टी में हवाई हमले जारी रखते हुए हमास के एक वरिष्ठ नेता के घर पर बमबारी की, एक शरणार्थी शिविर पर हमला किया और एक बहुमंजिला इमारत को ध्वस्त कर दिया जिसमें ‘द असोसिएटेड प्रेस’ और अन्य मीडिया संस्थानों के कार्यालय थे। शरणार्थी शिविर पर किए हमले में एक ही परिवार के 10 लोगों की मौत हो गई जिनमें अधिकतर बच्चे थे।वहीं, हमास उग्रवादी समूह ने इजराइल में रॉकेट हमले जारी रखे हैं। उसने देर रात तेल अवीव शहर पर भी रॉकेट दागे। शनिवार को एक घर पर रॉकेट गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई। अमेरिकी राजदूत ने पांच दिन की लड़ाई के बाद संघर्ष विराम का आह्वान तेज कर दिया है। इस संघर्ष में गाजा में कम से कम 145 फलस्तीनी मारे गए जिनमें 41 बच्चे और 23 महिलाएं शामिल हैं। इजराइल में आठ लोगों की मौत हो गई जिनमें पांच साल का बच्चा शामिल हैं।अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और फलस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास से फोन पर अलग-अलग बात की। हालांकि, उन्होंने इजराइल के अभियान का समर्थन किया है। इजराइल के युद्धक विमानों ने रविवार तड़के गाजा सिटी के अहम हिस्से में कई इमारतों और सड़कों को निशाना बनाया। निवासियों और पत्रकारों द्वारा जारी तस्वीरों के अनुसार, हवाई हमलों से गड्ढा बन गया जिससे शिफा अस्पताल की ओर जाने वाली एक मुख्य सड़क अवरुद्ध हो गई। शिफा गाजा पट्टी में सबसे बड़ा अस्पताल है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि ताजा हवाई हमलों में कम से कम दो लोगों की मौत हो गई और 25 घायल हो गए, जिनमें बच्चे और महिलाएं शामिल हैं। उसने बताया कि बचावकर्ता अब भी मलबा हटा रहे हैं तथा अभी तक पांच और घायलों को निकाला गया है। दो घंटों तक भारी बमबारी करने के बाद भी इजराइली सेना ने कोई टिप्पणी नहीं की है। इजराइल ने शनिवार को हमास की राजनीतिक शाखा के प्रमुख नेता खलील अल-हायेह के घर पर बम गिराए। अभी अल-हायेह के मारे जाने या किसी अन्य के मारे जाने की कोई खबर नहीं मिली है।अल-हायेह के घर पर बमबारी दिखाती है कि इजराइल अपना अभियान उग्रवादी समूह के सैन्य कमांडरों को निशाना बनाने से आगे बढ़ा रहा है। इजराइल ने कहा कि उसने हमास की सेना के दर्जनों लोगों को मार गिराया है। हालांकि हमास ने केवल 20 सदस्यों के मारे जाने की बात कही है। संघर्ष शुरू होने के बाद से ही इजराइल ने गाजा सिटी के बड़े कार्यालयों और आवासीय इमारतों को निशाना बनाते हुए आरोप लगाया कि इसमें हमास के उग्रवादी रह रहे थे। शनिवार को उसने 12 मंजिला अल-जाला इमारत को ध्वस्त कर दिया जहां एपी, टीवी नेटवर्क अल-जजीरा और अन्य मीडिया संस्थानों के कार्यालय स्थित थे।

नेतन्याहू ने शनिवार शाम को टेलीविजन पर दिए भाषण में कहा, ‘‘जब तक जरूरत पड़ेगी तब तक यह अभियान जारी रहेगा।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि हमास की सैन्य खुफिया ईकाई इस इमारत में काम कर रही थी। इजराइल आवासीय इमारतों समेत कई स्थानों पर हवाई हमलों के पीछे हमास उग्रवादियों की मौजूदगी की वजह बताता है। सेना ने इस उग्रवादी समूह पर पत्रकारों को मानव ढाल की तरह इस्तेमाल करने का आरोप भी लगाया लेकिन इस संबंध में कोई सबूत नहीं दिया।

एपी का कार्यालय इस इमारत में पिछले 15 वर्षों से था यानी कि इजराइल और हमास के बीच पहले के तीन युद्धों के दौरान भी उसने इसी इमारत से काम किया लेकिन कभी उसे सीधे निशाना नहीं बनाया गया। मीडिया संस्थानों के कार्यालय जिस इमारत में थे उस पर दोपहर को हुए हमले से पहले इजराइली सेना ने इमारत के मलिक को फोन कर इसे निशाना बनाए जाने की चेतावनी दी थी। इसके बाद एपी के कर्मचारी एवं अन्य लोगों ने तत्काल इमारत को खाली किया। समाचार संगठनों ने इजराइल के इस हवाई हमले के लिए स्पष्टीकरण देने की मांग की है।

पूर्वी यरूशलेम में 360 फिलीस्तीनी लोग घायल हुए

तेल अवीव। इजरायल और फिलीस्तीन के बीच जारी संघर्ष के दौरान पूर्वी यरूशलेम में कम से कम 360 फिलीस्तीनी घायल हो गये हैं। फिलीस्तरीन रेड क्रिसेंट ने अपनी हालिया रिपोर्ट में यह जानकारी दी। इससे पहले रेड क्रिसेंट ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि इजरायल के साथ जारी संर्घष में 1,330 फिलीस्तीनी घायल हुये हैं।गाजा पट्टी में 100 से अधिक जबकि वेस्ट बैंक में करीब 900 फिलिस्तीनी घायल हुये हैं। गौरतलब है कि इजारायल और फिलीस्तीन के बीच जारी संघर्ष के दौरान दोनों तरफ के कई नागरिकों की मौत हुई है और सैंकड़ों की संख्या में घायल हुये हैं। संघर्ष के बीच हताहत होने वालों में बच्चे और महिलाएं भी शामिल हैं।

कोरोना के खिलाफ रूस-भारत की संयुक्त लड़ाई

हरिओम उपाध्याय   
नई दिल्ली। रूस की कोरोना वायरस वैक्सीन ‘स्पूतनिक वी’ की दूसरी खेप रविवार को भारत पहुंची। भारत में रूस के राजदूत निकाेले कुदाशेव ने यह जानकारी दी। ‘स्पूतनिक वी’ की दूसरी खेप आज भारत के हैदराबाद पहुंची। कुदाशेव ने ट्वीट कर कहा, “स्पूतनिक वी’ की दूसरी खेप आज हैदराबाद पहुंच गई है। हम हम यह देखकर खुश हैं कि कोविड-19 के खिलाफ रूस-भारत की संयुक्त लड़ाई मजबूती से आगे बढ़ रही है।”रूसी राजदूत ने कहा कि ‘स्पूतनिक वी’ कोरोना के नए स्ट्रेन के खिलाफ भी प्रभावी है और वैक्सीन की दूसरा खेप समय पर भारत पहुंच गई है। ‘स्पूतनिक वी’ की पहली खेप एक मई को भारत पहुंची थी। इसके बाद 14 मई को हैदराबाद में इस वैक्सीन की पहली खुराक दी गई।

मध्य-पूर्व शांति प्रक्रिया अपने मूल रास्ते से भटक गई

शंघाई। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने शनिवार को पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी के साथ फ़ोन पर बात की। इस दौरान दोनों विदेश मंत्रियों ने फ़लस्तीनी-इसराइल संषर्घ पर चर्चा की। इस बातचीत में चीन ने इस हालिया संघर्ष पर अपनी स्थिति को भी स्पष्ट किया। चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि हाल के दिनों में इसराइल-फ़लस्तीनी संघर्ष काफ़ी बढ़ गया और हिंसक हुआ है। इससे बड़ी संख्या में लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है और ये स्थिति चिंता में डालने वाली है।

शाह महमूद क़ुरैशी से फ़ोन पर हुई बातचीत के दौरान वांग यी ने कहा कि आज जिस तरह से हालात बिगड़े हैं उसका सबसे बड़ा और अहम कारण है कि लंबे समय से फ़लीस्तीनी मुद्दे पर कोई न्यायसंगत समाधान नहीं निकाला जा सका है। उन्होंने कहा, “ख़ासतौर पर हाल के सालों में मध्य-पूर्व शांति प्रक्रिया अपने मूल रास्ते से भटक गई है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को गंभीरता से लागू नहीं किया गया है और सबसे अहम स्वतंत्र देश के निर्माण के फ़लीस्तीनी अधिकार की लगातार अवहेलना की गई है। जिसकी वजह से यह स्थिति यहां आ पहुंची है।”

पाकिस्तान
वांग यी ने मौजूदा स्थिति पर चिंता जताते हुए कहा कि जब तक फ़लीस्तीनी मुद्दे का न्यायोचित समाधान नहीं निकाला जाता तब तक ना ही फ़लीस्तीन और इसराइल के बीच शांति हो सकेगी और ना ही मध्य-पूर्व भी पूरी तरह शांत हो सकेगा। वांग यी ने सुरक्षा परिषद की भूमिका को अहम बताते हुए कहा, “अभी संघर्ष-विराम और हिंसा रोकने पर ज़ोर दिया जा रहा है और अब यह सुरक्षा परिषद की ज़िम्मेदारी है कि वो जल्द से जल्द फ़लस्तीनियों और इसराइल के बीच के तनाव को कम करे।” उन्होंने बताया कि मई महीने के लिए सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष के तौर पर चीन ने फ़लस्तीन-इसराइल संघर्ष को लेकर दो बार आपातकालीन बैठक के लिए दबाव बनाया है और साथ ही कार्रवाई को ध्यान में रखते हुए परिषद के मार्गदर्शन के लिए एक प्रेस-विज्ञप्ति का मसौदा भी तैयार किया है। उन्होंने बताया, “हालांकि यह अफ़सोस की बात है कि परिषद अभी तक किसी समझौते तक पहुंचने में असफल रही है।”वांग यी ने अमेरिका के संदर्भ में कहा कि“अमेरिका इंटरनेशनल-जस्टिस के उलट में खड़ा है।”उन्होंने कहा कि काउंसिल के सभी सदस्यों से अपनी ज़िम्मेदारियों का निर्वहन करने और शांति और सुरक्षा बनाए रखने के लिए प्रभावी प्रयास करने के लिए आग्रह किया गया है। वांग यी की इस बातचीत में प्रमुख बात दो देश निर्माण की थी।

चीन
उन्होंने कहा कि फ़लस्तीनियों के मुद्दे को दो देश निर्माण से सुलझाया जा सकता है। यही एकमात्र और अंतिम उपाय है, जिससे इस मुद्दे का समाधान संभव है। चीन रविवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में फ़लस्तीन-इसराइल संघर्ष पर होने वाली डिबेट (वाद-विवाद) की मेज़बानी करेगा। चीन की ओर से उम्मीद जताई गई है कि सभी पक्ष इस मुद्दे पर एकजुट होकर आगे आएंगे और अपनी बात रखेंगे। वांग यी ने चीन के विचार रखते हुए कहा कि “संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को दो-राष्ट्र के तहत समाधान को मंजूरी दे देनी चाहिए और फ़लस्तीन, इसराइल से दो-देश समाधान के आधार पर शांति वार्ता को शुरू करने के लिए आग्रह करना चाहिए।”

वांग यी ने कहा कि चीन फ़लस्तीनियों के अधिकारों की बहाली के लिए अपने प्रयासों को जारी रखेगा। वांग यी ने कहा कि चीन राजनीतिक बातचीत से इस मामले का उचित समाधान निकालने को लेकर दृढ़-प्रतिज्ञ है। उन्होंने इस मुद्दे को सुलझाने के लिए अरब लीग और ओआईसी की भूमिका को भी बेहद अहम बताया है। वहीं पाकिस्तान के विदेश मंत्री क़ुरैशी ने कहा कि पाकिस्तान सुरक्षा परिषद में न्याय व्यवस्था बनाए रखने के लिए चीन के प्रयासों की सराहना करता है। उन्होंने कहा, “हमारा देश संघर्ष विराम और हिंसा को रोकने के लिए और साथ ही शांति व्यवस्था कायम करने के लिए चीन के साथ मिलकर आगे बढ़ने का इच्छुक है।”

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण    
1. अंक-274 (साल-02)
2. सोमवार, मई 17, 2021
3. शक-1984, बैसाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- षष्ठी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 06:01, सूर्यास्त 07:07।
5. न्‍यूनतम तापमान -13 डी.सै., अधिकतम-38+ डी.सै.।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...