शनिवार, 13 अप्रैल 2024

नवरात्रि का छठा दिन मां 'कात्यायनी' को समर्पित

नवरात्रि का छठा दिन मां 'कात्यायनी' को समर्पित 

सरस्वती उपाध्याय 
कात्यायनी नवदुर्गा या हिंदू देवी पार्वती (शक्ति) के नौ रूपों में छठवीं रूप हैं।

मंत्र...
चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन। 
कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ॥

'कात्यायनी' अमरकोष में पार्वती के लिए दूसरा नाम है, संस्कृत शब्दकोश में उमा, कात्यायनी, गौरी, काली, हेेमावती व ईश्वरी इन्हीं के अन्य नाम हैं। शक्तिवाद में उन्हें शक्ति या दुर्गा, जिसमे भद्रकाली और चंडिका भी शामिल है, में भी प्रचलित हैं। यजुर्वेद के तैत्तिरीय आरण्यक में उनका उल्लेख प्रथम किया है। स्कन्द पुराण में उल्लेख है कि वे परमेश्वर के नैसर्गिक क्रोध से उत्पन्न हुई थीं , जिन्होंने देवी पार्वती द्वारा दी गई सिंह पर आरूढ़ होकर महिषासुर का वध किया। वे शक्ति की आदि रूपा है, जिसका उल्लेख पाणिनि पर पतञ्जलि के महाभाष्य में किया गया है, जो दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में रचित है। उनका वर्णन देवीभागवत पुराण, और मार्कंडेय ऋषि द्वारा रचित मार्कंडेय पुराण के देवी महात्म्य में किया गया है जिसे ४०० से ५०० ईसा में लिपिबद्ध किया गया था। बौद्ध और जैन ग्रंथों और कई तांत्रिक ग्रंथों, विशेष रूप से कालिका पुराण (१० वीं शताब्दी) में उनका उल्लेख है, जिसमें उद्यान या उड़ीसा में देवी कात्यायनी और भगवान जगन्नाथ का स्थान बताया गया है।
परम्परागत रूप से देवी दुर्गा की तरह वे लाल रंग से जुड़ी हुई हैं। नवरात्रि उत्सव के षष्ठी को उनकी पूजा की जाती है। उस दिन साधक का मन 'आज्ञा चक्र' में स्थित होता है। योगसाधना में इस आज्ञा चक्र का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। इस चक्र में स्थित मन वाला साधक माँ कात्यायनी के चरणों में अपना सर्वस्व निवेदित कर देता है। परिपूर्ण आत्मदान करने वाले ऐसे भक्तों को सहज भाव से माँ के दर्शन प्राप्त हो जाते हैं।

श्लोक...
चन्द्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहन ।
कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी ॥

कथा...
माँ का नाम कात्यायनी कैसे पड़ा इसकी भी एक कथा है- कत नामक एक प्रसिद्ध महर्षि थे। उनके पुत्र ऋषि कात्य हुए। इन्हीं कात्य के गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए थे। इन्होंने भगवती पराम्बा की उपासना करते हुए बहुत वर्षों तक बड़ी कठिन तपस्या की थी। उनकी इच्छा थी माँ भगवती उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लें। माँ भगवती ने उनकी यह प्रार्थना स्वीकार कर ली।
कुछ समय पश्चात जब दानव महिषासुर का अत्याचार पृथ्वी पर बढ़ गया तब भगवान ब्रह्मा, विष्णु, महेश तीनों ने अपने-अपने तेज का अंश देकर महिषासुर के विनाश के लिए एक देवी को उत्पन्न किया। महर्षि कात्यायन ने सर्वप्रथम इनकी पूजा की। इसी कारण से यह कात्यायनी कहलाईं।
ऐसी भी कथा मिलती है कि ये महर्षि कात्यायन के वहाँ पुत्री रूप में उत्पन्न हुई थीं। आश्विन कृष्ण चतुर्दशी को जन्म लेकर शुक्त सप्तमी, अष्टमी तथा नवमी तक तीन दिन इन्होंने कात्यायन ऋषि की पूजा ग्रहण कर दशमी को महिषासुर का वध किया था।
माँ कात्यायनी अमोघ फलदायिनी हैं। भगवान कृष्ण को पतिरूप में पाने के लिए ब्रज की गोपियों ने इन्हीं की पूजा कालिन्दी-यमुना के तट पर की थी। ये ब्रजमंडल की अधिष्ठात्री देवी के रूप में प्रतिष्ठित हैं।
माँ कात्यायनी का स्वरूप अत्यंत चमकीला और भास्वर है। इनकी चार भुजाएँ हैं। माताजी का दाहिनी तरफ का ऊपरवाला हाथ अभयमुद्रा में तथा नीचे वाला वरमुद्रा में है। बाईं तरफ के ऊपरवाले हाथ में तलवार और नीचे वाले हाथ में कमल-पुष्प सुशोभित है। इनका वाहन सिंह है।
माँ कात्यायनी की भक्ति और उपासना द्वारा मनुष्य को बड़ी सरलता से अर्थ, धर्म, काम, मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति हो जाती है। वह इस लोक में स्थित रहकर भी अलौकिक तेज और प्रभाव से युक्त हो जाता है।

उपासना...
नवरात्रि का छठा दिन माँ कात्यायनी की उपासना का दिन होता है। इनके पूजन से अद्भुत शक्ति का संचार होता है व दुश्मनों का संहार करने में ये सक्षम बनाती हैं। इनका ध्यान गोधुली बेला में करना होता है। प्रत्येक सर्वसाधारण के लिए आराधना योग्य यह श्लोक सरल और स्पष्ट है। माँ जगदम्बे की भक्ति पाने के लिए इसे कंठस्थ कर नवरात्रि में छठे दिन इसका जाप करना चाहिए।
या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥
अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और शक्ति -रूपिणी प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ।
इसके अतिरिक्त जिन कन्याओ के विवाह मे विलम्ब हो रहा हो, उन्हे इस दिन माँ कात्यायनी की उपासना अवश्य करनी चाहिए, जिससे उन्हे मनोवान्छित वर की प्राप्ति होती है।

विवाह के लिए कात्यायनी मन्त्र...

ॐ कात्यायनी महामाये महायोगिन्यधीश्वरि । नंदगोपसुतम् देवि पतिम् मे कुरुते नम:॥

महिमा...
माँ को जो सच्चे मन से याद करता है उसके रोग, शोक, संताप, भय आदि सर्वथा विनष्ट हो जाते हैं। जन्म-जन्मांतर के पापों को विनष्ट करने के लिए माँ की शरणागत होकर उनकी पूजा-उपासना के लिए तत्पर होना चाहिए।

यमुना नदी में डूबने से दो युवकों की मौत, शव बरामद

यमुना नदी में डूबने से दो युवकों की मौत, शव बरामद 

पंकज कपूर 
देहरादून। जिले के विकासनगर में दो युवकों के नदी में डूबने का मामला सामने आया है। यहां यमुना नदी में डूबने से दो युवकों की मौत हो गई। एसडीआरएफ ने दोनों युवकों के शव बरामद कर लिए हैं।
घटना के मुताबिक, शनिवार को सेलाकुई कंपनी में काम करने वाले दो युवक विकासनगर क्षेत्र के कटापत्थर क्षेत्र में घूमने आए थे। दोनों युवक यमुना नदी में नहाने उतरे। इस दौरान नदी की गहराई को समझ नहीं पाए और डूब गए। आसपास के लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर मौके पर पहुंचे विकासनगर पुलिस ने एसडीआरएफ को मौके पर बुलाया गया। सूचना पर एसडीआरएफ के अपर उपनिरीक्षक सुरेश तोमर के नेतृत्व में टीम ने यमुना नदी में सर्च ऑपरेशन शुरू किया। घंटों की मशक्कत के बाद जवानों ने दोनों शवों को नदी की गहराई से बरामद किया।
एसडीआरएफ के अपर उपनिरीक्षक सुरेश तोमर के मुताबिक मृतक युवकों की पहचान 22 वर्षीय संदीप राणा पुत्र दीवान सिंह जिला अल्मोड़ा और 23 वर्षीय ऋतिक उपाध्याय जिला पिथौरागढ़ के रूप में हुई है। मृतकों के परिजनों से संपर्क किया जा रहा है। शवों को मोर्चरी में रखवाया गया है। पंचायत नामा की कार्रवाई चल रही है।

नमाज के मामलें में 200 लोगों के खिलाफ केस दर्ज

नमाज के मामलें में 200 लोगों के खिलाफ केस दर्ज 

सत्येंद्र पंवार 
मेरठ। ईद उल फितर के मौके पर महानगर की शाही ईदगाह के बाहर सड़क पर अदा की गई नमाज के मामलें में पुलिस द्वारा लिए गए बड़े एक्शन के अंतर्गत 200 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। शनिवार को ईद उल फितर के मौके पर सड़क पर नमाज पढ़ने के मामले में पुलिस द्वारा लिए गए एक बड़े एक्शन के अंतर्गत रेलवे रोड थाना क्षेत्र के चौकी प्रभारी की तरफ से 200 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। मुकदमा दर्ज किए जाने से अब चारों तरफ हड़कंप मच गया है।
उल्लेखनीय है कि ईद उल फितर के मौके पर पुलिस और प्रशासन द्वारा ईद की नमाज को सकुशल संपन्न करने के लिए व्यापक इंतजाम किए गए थे। लेकिन मेरठ में शाही ईदगाह के बाहर नमाजियों ने अपनी मनमर्जी चलाते हुए सड़क पर दरी बिछाकर नमाज अदा की थी। हालांकि पुलिस और प्रशासन द्वारा सड़क पर दरी बिछाकर नमाज पढ़ने से लोगों को रोका भी गया था। लेकिन नमाजी पुलिस के साथ ही भिड़ने को तैयार हो गए थे। आज थाना रेलवे रोड थाने में 200 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

कांग्रेस समस्या का नाम है, भाजपा समाधान है

कांग्रेस समस्या का नाम है, भाजपा समाधान है 

संदीप मिश्र 
हल्द्वानी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को कांग्रेस पर जमकर बरसे। हल्द्वानी में नैनीताल लोकसभा सीट से प्रत्याशी अजय भट्ट के समर्थन में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए आदित्यनाथ ने कहा कि कांग्रेस समस्या का नाम है और भारतीय जनता पार्टी समाधान है।
हल्द्वानी के एमबी इंटर कॉलेज में आयोजित भाजपा की विजय संकल्प रैली में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे। उनके साथ सीएम पुष्कर सिंह धामी में मौजूद थे।
सीएम योगी ने कहा कि उत्तराखंड अनेक महापुरुषों को जन्म देने वाली धरती है। यूपी के पहले मुख्यमंत्री पंडित गोविंद बल्लभ पंत, नारायण दत्त तिवारी और हेमवती नंदन बहुगुणा को इसी धरती ने जन्म दिया है। ऐसी धरती को कोटि कोटि नमन करता हूं। देवभूमि के कंकड़ कंकड़ में शंकर है।
उन्होंने कहा कि देश की समस्याओं का नाम कांग्रेस है। आतंकवाद, नक्सलवाद, जातिवाद, भ्रष्टाचार आदि सभी समस्याएं कांग्रेस की देन है। मोदी के नेतृत्व में सभी समस्याओं का समाधान किया है। देश ने गौरव की नई ऊंचाइयों को छुआ है। उन्होंने कहा कि मेरा बचपन उत्तराखंड में ही बिता। दूर दूर जाकर पानी लाना पड़ता था। आज हर घर नल की योजना के कारण 100 में से 90 घरों में पानी पहुंच गया है।
योगी ने कहा कि अयोध्या का विवाद कांग्रेस ने खड़ा किया था। कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट में एफिडेविट देकर कहा था कि राम और कृष्ण तो हुए ही नहीं। हमने राम और कृष्ण की विरासत को स्वीकार किया और अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण किया। उत्तराखंड में केदारनाथ, बद्रीनाथ धाम को नई पहचान के साथ प्रस्तुत किया।
सीएम योगी ने कहा आज यूपी में पहले कांवड़ यात्रा के दौरान बमबाजी होती थी, लेकिन आज बम-बम भोले हो रहा है। आज यूपी के भ्रष्टाचारी और दुराचारी संकट में है। अपराधी थर-थर कांप रहे हैं क्योंकि उन्हें भी पता है कि उनका ठिकाना सिर्फ जेल या जहन्नुम है। उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश में कुछ लोगों को गलतफहमी है कि यहां अपराध करके उत्तराखंड भाग जाएंगे, लेकिन वो उनको अपराध करने के लायक ही नहीं छोड़ेंगे।
उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश को उत्तराखंड से अलग नहीं कर सकते हैं। उत्तराखंड से निकलने वाले पानी से ही उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश बनता है। अगर कोई भी अपराधी उत्तर प्रदेश में अपराध कर उत्तराखंड भागना चाहता है तो उस किसी लायक नहीं छोड़ेंगे। उत्तराखंड की पवित्र भूमि को अपवित्र नहीं होने देंगे।
विपक्ष पर निशाना साधते हुए योगी ने कहा कि कांग्रेस के समय जातिवाद की राजनीति होती थी, अराजकता का राज होता था, तुष्टिकरण की राजनीति होती थी। आज जो परिवर्तन देखने को मिला है वो आपके वोट ने किया है। आज मो मोदी के नेतृत्व में श्रेष्ठ भारत के दर्शन हो रहे हैं।
इस दौरान योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि बाबा श्री केदारनाथ जी की पावन धरा, देवभूमि उत्तराखंड ने ‘जो राम को लाए हैं’, उन्हें पुन: लाने का संकल्प ले लिया है। हर बूथ पर राष्ट्रवाद का कमल खिलने जा रहा है।
इस दौरान भाजपा प्रत्याशी अजय भट्ट ने योगी और धामी की तारीफों के पुल बांधे और कहा कि यूसीसी और नकल विरोधी कानून बनाकर सीएम पुष्कर सिंह धामी ने इतिहास बना दिया है। भट्ट ने जमरानी बांध को मंजूरी मिलने को बड़ी उपलब्धि बताया। उन्होंने कहा कि अगर में दोबारा सांसद में जाता हूं तो प्रदेश और क्षेत्र की नाक नीची नहीं होने दूंगा।
सीएम पुष्कर धामी ने कहा कि योगी ने यूपी में जो कार्य किए हैं उनकी धमक देश दुनिया में हैं। आज सभी लोग उन्हें बुलडोजर बाबा के नाम से जानने लगे हैं। एक समय यूपी को बीमारू राज्य के रूप में जाना जाता था। अब यूपी उत्तम प्रदेश और उत्कृष्ट प्रदेश बन गया है। सीएम धामी ने कहा कि इस बार राष्ट्रीय खेलों की मेजबानी भी हमें करनी है। हमने समान नागरिक संहिता विधेयक पारित किया। नकल विरोधी कानून लागू किया, लैंड जिहाद के खिलाफ कार्यवाही की, धर्मांतरण विरोधी कानून और दंगा विरोधी कानून हम लेकर आए हैं। दंगे में हुए नुकसान की भरपाई दंगा करने वाले भरेंगे।
सभा में भाजपा जिलाध्यक्ष प्रताप बिष्ट, प्रदेश महामंत्री राजेंद्र सिंह बिष्ट, खिलेंद्र चौधरी, मीडिया प्रभारी चंदन बिष्ट, विधायक बंशीधर भगत, राम सिंह कैड़ा, मोहन सिंह बिष्ट, सरिता आर्य, निवर्तमान महापौर डॉ जोगेन्द्र पाल सिंह रौतेला, साकेत अग्रवाल समेत तमाम पदाधिकारी मौजूद थे।

गिरावट: पेयजल संकट गहराने की आशंका बनी

गिरावट: पेयजल संकट गहराने की आशंका बनी 

नैनी की तरफ अनियंत्रित खनन पर भी नियंत्रण की तैयारी

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। गर्मी के साथ यमुना नदी के जलस्तर में भी तेजी से गिरावट आने लगी है। इससे पेयजल संकट गहराने की आशंका बन गई है। करेलाबाग राॅ वाटर पंपिंग स्टेशन को यमुना नदी से पर्याप्त पानी मिलता रहे इसके लिए सिंचाई विभाग को पत्र लिखा गया है। इसके अलावा नैनी की तरफ नदी जल को भागने से रोकने के लिए खनन पर भी नियंत्रण की कवायद शुरू कर दी गई है।
पुराने शहर के बड़े इलाके में करेलाबाग पंपिंग स्टेशन से जलापूर्ति की जाती है। पंप के माध्यम से यमुना नदी का जल खुसरोबाग प्लांट में लाया जाता है। फिर ट्रीटमेंट के बाद घरों में आपूर्ति की जाती है लेकिन यमुना नदी के जलस्तर में कमी के साथ पंपिंग स्टेशन को भी पर्याप्त पानी नहीं मिलने का अंदेशा बन गया है।
यमुना नदी में नैनी की तरह बालू खनन से स्थिति और बिगड़ने लगी है। खनन की वजह से नदी जल नैनी की तरफ भाग रहा है। इससे भी करेलाबाग की तरफ जलस्तर में कमी दर्ज की गई, जिससे पंपिंग स्टेशन को पर्याप्त पानी नहीं मिलने का अंदेशा बन गया है। इसे लेकर डीएम नवनीत सिंह चहल को अवगत कराया गया है। ताकि, अनियंत्रित खनन को रोका जा सके। खनन विभाग को इस बाबत निर्देश भी दिए गए हैं।
इसके अलावा पंपिंग स्टेशन को ध्यान में रखते हुए यमुना नदी में पर्याप्त जल स्तर बना रहे। इसके लिए नदी में पानी छोड़े जाने की भी मांग की गई है। इसके सिंचाई विभाग के अफसरों को अवगत करा दिया गया है। जलकल के महाप्रबंधक कुमार गौरव का कहना है कि जल्द ही सिंचाई विभाग को पत्र लिखा गया जाएगा। महाप्रबंधक का कहना है कि अभी पंपिंग स्टेशन के लिए पर्याप्त पानी है। लेकिन भविष्य में पानी कम होने की आशंका को देखते हुए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।
करेलाबाग पंपिंगग स्टेशन के कुएं में पानी कम होने पर सबमर्सिबल से जलस्तर मेंटेन करने की तैयारी की गई है। सबमर्सिबल की मदद से यमुना नदी से पानी खींचकर पंपिंग स्टेशन के कुएं को भरा जाएगा। ताकि, पंपिंग स्टेशन के पंप को चलाने के लिए पर्याप्त पानी मिलता रहे। महाप्रबंधक ने बताया कि इसके लिए चार सबमर्सिबल लगाए गए हैं।
गर्मी में भूजल स्तर नीचे जाने के साथ जल संकट गहरा गया है। ट्यूबेल से जलापूर्ति प्रभावित होने से लो प्रेशर तथा नलों में गंदा पानी की आने की शिकायत बढ़ गई है। वहीं हैंडपंपों के खराब होने से परेशानी और बढ़ गई है। विस्तारित क्षेत्रों मैं ज्यादा संकट है। ट्यूबेल में खराबी, जलस्तर नीचे जाने तथा बिजली कटौती की वजह से साउथ मलाका, रामबाग, अल्लापुर के संजय नगर, शिवनगर, बैरहना आदि मोहल्लों में पेयजल आपूर्ति की समस्या बनी हुई है। ऐसे में हैंडपंप के धोखा देने से संकट और गहरा गया है।
प्रारंभिक सर्वे में 400 से अधिक हैंडपंप पूरी तरह से खराब पाए गए हैं। वहीं सैकड़ों खराब हो गए हैं। जलस्तर नीचे जाने की वजह से इनमें से ज्यादातर खराब हो गए हैं। इसे देखते हुए जलकल की ओर से वार्डवार सूची तैयार कर हैंडपंप ठीक कराने की योजना बनाई गई है।
जलकल के महाप्रबंधक कुमार गौरव का कहना है कि विस्तारित क्षेत्र को मिलाकर शहर में कुल करीब 3500 हैंडपंप हैं। इनमें से 400 से अधिक पूरी तरह से खराब हैं। उनका कहना है कि करीब 50 हैंडपंप रीबोर कराए गए हैं। अन्य का भी सर्वे कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सामान्य रूप में खराब करीब 15 हैंडपंप रोजाना ठीक कराए जा रहे हैं।
अल्लापुर चौराहा, माली चौराहा, शिवपुरी आदि क्षेत्रों में गंदे पानी की आपूर्ति तथा लो प्रेशर की लंबे समय से शिकायत बनी हुई है। इसे देखते हुए पार्षद शिवसेवक सिंह के साथ जलकल के अफसर चंद्रभूपषण, दिनेश मिश्रा आदि ने घर-घर जाकर लोगों की समस्याएं सुनीं। इस दौरान वैंकटैश पांडेय, पीडी यादव, शिवसेवक राम द्विवेदी, कुंज बिहारी मिश्रा आदि ने लो प्रेशर तथा गंदे पानी की आपूर्ति की बात कही। पूछताछ के दौरान ही शिवपुरी माार्ग पर पाइपलाइन में खराबी पकड़ में आई। अफसरों ने उसे ठीक कराया। साथ ही उन्होंने आश्वास्त किया कि पेयजल संकट न होने पाए इसके लिए लगातार प्रयास जारी रहेगा।
गर्मी में पेयजल संकट को देखते हुए डीएम नवनीत सिंह चहल ने जरूरी इंतजाम के निर्देश दिए हैं। शुक्रवार को हुई बैठक में उन्होंने मेजा, शंकरगढ़, कोरांव, बारा के जल संकट वाले क्षेत्रों में टैंकर से जलापूर्ति के निर्देश दिए। उन्होंने पोखरों, तालाबों में अप्रैल में ही पानी भरवाने के निर्देश दिए। डीएम ने शहरी, टाउन एरिया तथा अन्य बाजारों में भी टैंकर तथा अन्य माध्यमों से जलपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।
डीएम ने पशुओं के टीकाकरण, चारा-पानी के इंतजाम के निर्देश दिए। आग की घटनाओं पर नियंत्रण के लिए बिजली के तारों को ठीक कराने, ट्रांसफार्मर आदि दुरुस्त कराने, गैस सिलेंडर, रेगुलेटर, पाइप आदि की जांच कराने के निर्देश दिए। डीएम ने खाद्य सुरक्षा औषधि विभाग को खाद्य पदार्थों की नियमित जांच कराने आदि के निर्देश दिए।डीएम ने इन कार्यों के लिए अफसरों की जिम्मेदारी भी तय की। बैठक में एडीएम वित्त एवं राजस्व विनय कुमार सिंह, डीडीओ भोलानाथ कनौजिया समेत अनेक अफसर मौजूद रहे।
गर्मी बढ़ने पर जलकल विभाग की ओर से 15 स्थानों पर प्याऊ की व्यवस्था की गई है। इन स्थानों पर स्टैंड बनाकर पानी की टंकी रखी गई है। प्याऊ की व्यवस्था नखास कोहना, जानसेनगंज चौराहा, रामजानकी मंदिर, जीरो रोड बस अड्डा, मानसरोवर सिनेमा हाल के सामने, सिविल लाइंस बस अड्डा, हनुमान मंदिर सिविल लाइंस, मेडिकल कॉलेज चौराहा, अल्लापुर लेबर चौराहा, दारागंज थाने के पास, अलोपी देवी मंदिर, बैरहना चौराहा, बलुआ घाट चौराहा, शनि मंदिर लूकरगंज तथा रेलवे स्टेशन गेट नंबर चार के पस लगाए गए हैं। जलकल के महाप्रबंधक कुमार गौरव ने बताया कि इन टंकियों में नियमित पानी भरवाया जा रहा है।

पीएम के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर हमला बोला

पीएम के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर हमला बोला 

दुष्यंत टीकम 
जगदलपुर। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को जगदलपुर में पीएम मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार पर हमला बोला। राहुल ने कहा कि संविधान बचाने के लिए कांग्रेस लड़ रही। मोदी, अडानी, आरएसएस संविधान पर आक्रमण कर रहे और संविधान को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं। राहुल ने कहा कि भारत की राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू को अयोध्या में राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने से रोका गया, क्योंकि वह एक आदिवासी हैं। यह भाजपा की सोच को दिखाता है। 
छत्तीसगढ़ के बस्तर जिला मुख्यालय जगदलपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव को दो विचारधाराओं-संविधान की रक्षा करने वाले और इसे नष्ट करने वालों- के बीच की लड़ाई बताया। यह चुनावी रैली अनुसूचित जनजाति(आरक्षित) बस्तर लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार कवासी लखमा के समर्थन में आयोजित की गई थी।
राहुल गांधी ने कहा कि मोदी आदिवासी शब्द को बदलने की कोशिश कर रहे हैं। हम आपको ‘आदिवासी’ कहते हैं लेकिन वे ‘वनवासी’ शब्द का इस्तेमाल करते हैं। वनवासी और आदिवासी शब्दों में बहुत बड़ा अंतर है…आदिवासी शब्द का गहरा अर्थ है। यह शब्द जल, जंगल, जमीन पर आपके अधिकार को व्यक्त करता है। वनवासी का मतलब है जो जंगल में रहते हैं।
कांग्रेस नेता ने कहा कि भाजपा और आरएसएस आदिवासियों के धर्म, विचारधारा और इतिहास पर हमला करते रहे हैं। भाजपा आपकी जमीनें अरबपतियों को दे रही है। उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह को लेकर कहा कि भारत की राष्ट्रपति को अयोध्या में राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह में भाग लेने से रोका गया क्योंकि वह एक आदिवासी हैं। मोदी जी ने देश को यह संदेश दिया और यही उनकी सोच है।
राहुल गांधी ने कहा, कि संविधान बचाने के लिए कांग्रेस लड़ रही। मोदी अडानी आरएसएस संविधान पर आक्रमण कर रहे और संविधान को खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं। राहुल गांधी ने कहा, कि बीजेपी के लोग अडानी जैसे लोगों को जंगल दे रहे हैं। जब वन नहीं होंगे तो वनवासी कहां रहेंगे। भाजपा नेता ने आदिवासी के चेहेरे पर मूता। भाजपा जल जंगल जमीन छीन रही। 
पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल गांधी ने कहा, कि मोदी हर भाषण में अलग-अलग बाते कहते हैं। समंदर में घुस कर पूजा करते हैं। कोविड के समय लाखों लोगों को बेवकूफ बनाया गया। मोबाइल जलाकर थाली बजवाया गया। हॉस्पिटल में ऑक्सीजन नहीं था, लोग सांस नहीं ले पा रहे थे और मोदी ने मदद नहीं की। पूरा फायदा देश के 5 से 6 लोगों को मोदी दे देते हैं। देश के 22 लोग जिनके पास देश के करोड़ों लोगों के जितना धन है। 
राहुल गांधी ने कहा कि हम 5 काम करने जा रहे हैं। 30 लाख बरोजगार को नौकरी। मनरेगा की तर्ज पर युवाओं को अपरेंट्स शिप मिलेगी। 1 साल के लिए सरकारी दफ्तर में 1 साल की नौकरी होगी। खाते में 1 लाख भी 1 साल में मिलेगा। अनियमित नौकरी नहीं अब सरकरी एवं पब्लिक सेक्टर में परमानेंट नौकरी मिलेगी मिलेगी।  
राहुल गांधी ने कहा कि बीजेपी किसानों का कर्जा माफ करना नहीं चाहती। किसानों का कर्जा देश भर में माफ होगा। किसानों को एमएसपी मिलेगी। महिलाओं को महालक्ष्मी योजना देश के गरीब परिवारों की एक महिला को हर माह 8,500 रुपये मिलेंगे। हम एक झटके में गरीबी को देश से खत्म कर देंगे।

अनियंत्रित होकर सड़क पर पलटी बस, 13 घायल

अनियंत्रित होकर सड़क पर पलटी बस, 13 घायल 

पंकज कपूर 
ऋषिकेश। ऋषिकेश-गंगोत्री नेशनल हाईवे पर शनिवार की सुबह बड़ा हादसा टल गया। यहां एक बस अनियंत्रित होकर बीच सड़क पर पलट गई। इससे यात्रियों में चीख पुकार मच गई। हादसे में 13 यात्री घायल हो गए हैं। जिसमें तीन की हालत नाजुक बताई जा रही है। उन्हें हायर सेंटर रेफर किया गया है। जबकि घायलों को ऋषिकेश एम्स में ले जाया गया है।
शनिवार की सुबह ऋषिकेश से एक बस टिहरी गढ़वाल के लमगांव के लिए रवाना हुई थी। जब बस गंगोत्री राजमार्ग पर भद्रकाली से आगे पहुंची तभी चालक बस पर नियंत्रण खो बैठा। बस लहराते हुए सड़क किनारे पलट गई। सड़क किनारे क्रैश बैरियर लगा था, जिस कारण से बस खाई में जाने से बच गई। बस के पलटते ही सवारियों में चीख पुकार मच गई। बताया जा रहा है बस चालक नशे में था जिस कारण से हादसा हो गया। हादसे के बाद चालक फरार हो गया। बस दुर्घटना की सूचना मिलते ही पुलिस और एसडीआरएफ मौके पर पहुंच गई और घायलों को बस से बाहर निकाला।
घायलों में हिम्मत सिंह रावत निवासी बौंसाडी लमगांव टिहरी गढ़वाल, पूरन सिंह निवासी न्यूसाड़ी धौंतरी उत्तरकाशी, चंद्र मोहन निवासी लमगांव टिहरी गढ़वाल, युद्ध वीर निवासी धौंतरी उत्तरकाशी, दरमियां सिंह निवासी धौंतरी उत्तरकाशी, मुकेश असवाल निवासी लमगांव टिहरी गढ़वाल, कृष्णा देवी निवासी ढालवाला मुनिकीरेती टिहरी गढ़वाल, साक्षी  निवासी श्यामपुर हरिद्वार, सचिन चौहान निवासी लमगांव टिहरी गढ़वाल, दीपिका मिश्रवान निवासी खेतगांव लमगांव टिहरी गढ़वाल, अंकित बिष्ट निवासी रैका लमगांव, सुषमा देवी निवासी धौंतरी उत्तरकाशी तथा कोठ्यारी देवी निवासी गाजी वाली श्यामपुर हरिद्वार को राजकीय चिकित्सालय ऋषिकेश लाया गया। जहां हिम्मत सिंह रावत, कोठ्यारी देवी तथा सुषमा देवी की हालात को गंभीर देखते हुए चिकित्सकों ने उन्हें हायर सेंटर एम्स के लिए रेफर किया है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-176, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2014/57254

2. रविवार, अप्रैल 14, 2024

3. शक-1945, पौष, शुक्ल-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2079‌‌। 

4. सूर्योदय प्रातः 06:03, सूर्यास्त: 06:43।

5. न्‍यूनतम तापमान- 28 डी.सै., अधिकतम- 19+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

अगले 4-5 दिनों तक तेज 'हीटवेव' की संभावना

अगले 4-5 दिनों तक तेज 'हीटवेव' की संभावना  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। इस समय देश में सभी देशवासियों का गर्मी से हाल बेहाल है और अभी...