शुक्रवार, 25 सितंबर 2020

झूठ बोलकर अफ़वाह फैला रहा विपक्ष

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसान बिलों पर मचे घमासान के बीच एक बार फिर विपक्ष पर निशाना साधा है। उन्होंने बगैर किसी दल का नाम लिए विपक्ष पर किसानों के मुद्दे पर अफवाह फैलाने का आरोप लगाया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि किसानों से हमेशा झूठ बोलने वाले कुछ लोग अपने राजनीतिक स्वार्थ की वजह से किसानों को भ्रमित करने में लगे हैं।


प्रधानमंत्री मोदी ने दीनदयाल उपाध्याय जयंती पर शुक्रवार को भाजपा कार्यकतार्ओं को वीडियो कांफ्रेंसिंग से संबोधित करते हुए कहा, ये लोग अफवाहें फैला रहे हैं। किसानों को ऐसी किसी भी अफवाह से बचाना भाजपा कार्यकतार्ओं की जिम्मेदारी है। हमें किसान के भविष्य को उज्‍जवल बनाना है।प्रधानमंत्री मोदी ने संसद से पास हुए किसानों से जुड़े बिलों को लेकर कहा, अब दशकों बाद किसान को अपनी उपज पर सही हक मिल पाया है। कृषि में जो सुधार किए हैं उसका सबसे ज्यादा लाभ छोटे और सीमांत किसानों को मिलेगा। किसानों को कर्ज लेने की मजबूरी से बाहर निकालने के लिए हमने एक अहम काम पूरी ताकत से शुरू किया है।               


राहुल-प्रियंका ने किया सरकार पर हमला

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तथा पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने संसद के मानसून सत्र में पारित कृषि संबंधी विधेयकों को लेकर शुक्रवार को मोदी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा इस कानून के जरिए किसानों को पूंजीपतियों का गुलाम बनाने की व्यवस्था की गई है।


राहुल गांधी ने इस कानून के विरोध में भारत बंद को सफल बनाने की लोगों से अपील की और सरकार पर हमला करते हुए कहा “दोषपूर्ण वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) ने न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को बर्बाद कर दिया है। नया कृषि कानून किसानों को गुलाम बना देगा।” इसके साथ ही राहुल गांधी तथा प्रियंका गांधी वाड्रा ने भारत बंद के लिए भी लोगों से समर्थन देने का आग्रह किया। प्रियंका गांधी ने कहा ” किसानों से एमएसपी छीन ली जाएगी। उन्हें कांट्रेक्ट फार्मिंग के जरिए खरबपतियों का गुलाम बनने पर मजबूर किया जाएगा। न दाम मिलेगा, न सम्मान। किसान अपने ही खेत पर मजदूर बन जाएगा। भाजपा का कृषि बिल ईस्ट इंडिया कम्पनी राज की याद दिलाता है। हम ये अन्याय नहीं होने देंगे।”             


केरल को 'संयुक्त राष्ट्र' करेगा पुरस्कृत

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से गैर संक्रामक रोगों के नियंत्रण के लिए पुरस्कार की घोषणा की गई है। यह पुरस्कार संयुक्त राष्ट्र अंतर टास्क फोर्स की ओर से दिया जा रहा हैै। विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टेड्रोस एडहोम घेबियस ने इस अवॉर्ड की घोषणा करते हुए भारत के राज्य केरल को इस पुरस्कार के लिए चुना है। गैर संक्रामक रोगों के नियंत्रण और रोकथाम के लिए लगातार काम करने के लिए केरल को संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार के लिए चुना गया है। संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार के लिए चुने जाने पर केरल की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा का कहना है कि ‘यह पुरस्कार स्वास्थ्य क्षेत्र में केरल की अथक सेवा की मान्यता है। स्वास्थ्य मंत्री शैलजा ने एक बयान में कहा “राज्य सरकार ने बीमारियों के इलाज के लिए सभी स्तरों पर अस्पतालों में बुनियादी सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्रों से सुविधाओं की व्यवस्था की है। हम COVID-19 संक्रमण के दौरान मृत्यु दर को नियंत्रित करने में सक्षम थे क्योंकि हम एनसीडी पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम थे।


सोने की कीमत में जबरदस्त गिरावट आई

सोना खरीदने वालों के लिए अच्छी खबर! कीमतों में आई जबरदस्त गिरावट जानें नई कीमत।


अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। सोने के जेवरात खरीदने वालों के लिए एक बड़ी खबर है। सोने के दाम में लगातार गिरावट की वजह से महीनों के बाद सोना एक बार फिर से 50 हजार रुपये के नीचे आ चुका है। स्पॉट गोल्ड की कीमतों में गुरुवार को गिरावट देखने को मिली फेस्टिव सीजन से ठीक पहले महामारी के चलते वैश्विक अर्थव्यवस्था में अनिश्चितता और बढ़ती बेरोजागरी से पीली धातु के दाम में कमी देखने को मिल रही है। मल्टी-कमोडिटी एक्सचेंज (MCX) पर गुरुवार को सोना 613 रुपये प्रति 10 ग्राम सस्ता होकर 49,638 रुपये के स्तर पर आ गया है। दुनियाभर में सोने की मामले में भारत दूसरे स्थान पर है। सोने की सबसे ज्यादा खपत चीन में होती है।वायदा बाजार में भी अक्टूबर के लिए सोने के भाव में गिरावट दर्ज की गई  यह 0.45 फीसदी लुढ़ककर 49,293 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया है। बीते चार दिन में सोने के दाम में करीब 2,500 रुपये प्रति 10 ग्राम की कमी आई है।
इस एक्ट्रेस को सता रहा जान का खतरा कहा मैं छत से लटकी हुई पाई गई तो डॉलर में मजबूती का असर
पिछले महीने ही सोने का भाव उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था। इस बीच हालिया गिरावट से अलग अधिकतर एनलिस्ट्स व ट्रेडर्स सोने के भाव को लेकर अभी भी आशावादी दिखाई दे रहे हैं। वर्तमान में सोने के दाम पर सबसे ज्यादा अमेरिकी करंसी डॉलर का असर देखने को मिल रहा है। इस सप्ताह अमेरिकी कंरसी में मजबूती देखने को मिली है।
ब्याज दरों ने बिगाड़ा खेल
जानकारों का कहना है। कि विकसित देशों में ब्याज दरें शून्य के करीब पहुंच चुकी हैं। केंद्रीय बैंकों ने भी संकेत दिया है। कि लंबे समय तक ब्याज दरें कुछ ऐसी ही रहेंगी। आमतौर पर ब्याज दरों का असर सोने के दाम पर पड़ता है।ऐसे में अब उम्मीद की जा रही है। ब्याज दरें शून्य के करीब होने से अधिकतर लोग सुरक्षित निवेश के गोल्ड में निवेश का विकल्प चुन सकते हैं। इससे कीमतों में तेजी आने का अनुमान है।               


कीटो डाइट से रहे दूर, कई नुकसान

कीटो डाइट से रहे दूर। हार्ट प्राब्लम मसल्स की मास में कमी के साथ शरीर को पहुंचाता है। कई प्रकार के नुकसान।


रायपुर। कीटो डाइट आज सभी को अपनी ओर आकर्षित कर रही है। लोग इसका उपयोग कर रहे हैं। लेकिन लोग इस बात से अंजान हैं। कि इसके कई सारे ऐसे नुकसान हैं। इसके कारण बॉडी में थकान बॉडी में फाइबर  मिनरल्स और विटामिन्स की कमी हो सकती है।
हार्ट प्रॉब्लम। कीटो डाइट हार्ट के लिए घातक साबित हो सकती है। कीटो डाइट कम समय के लिए वजन कम करने में मदद करती है। लेकिन इसमें कई सारी ऐसी चीजों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। जिससे हार्ट रिस्क बढ़ सकता है।
एथलेटिक परफॉर्मेंस में कमी कीटो डाइट पर रहने से परफॉर्मेंस में कमी आ जाती है। दरअसल जब बॉडी कीटोसिस में होती है। तो शरीर अधिक अम्लीय अवस्था में रहता है। जो पीक लेवल पर परफॉर्मेंस की क्षमता को लिमिटेड कर देता है।
दोबारा वजन बढ़ना । कीटो डाइट को लंबे समय तक फॉलो नहीं करना चाहिए। इसके बाद आपको अपने नॉमर्ल डाइट पर आ जाना चाहिए। कीटो डाइट की बड़ी समस्या यह है। कि ज्यादातर लोगों का डाइट छोड़ने के बाद वापस वजन बढ़ने लगता है। क्योंकि वो कार्ब्स का सेवन शुरू कर देते हैं।
मसल्स मास कम होता है। कीटो डाइट से जल्दी वजन कम होने का एक कारण यह भी है। कि इससे मसल्स को काफी नुकसान होता है। इससे फैट बर्न होने के साथ मसल्स मास भी बर्न होता है। इससे आप जल्दी पतले हो जाते हैं। जब कोई व्यक्ति कीटोजेनिक डाइट से बाहर आता है तो वह मूल वजन का अधिकतर हिस्सा वापस से प्राप्त कर लेता है। लेकिन उसमें लीन मसल्स की अपेक्षा फैट गेन अधिक होता है।             


भारत में 58 लाख से अधिक संक्रमित

भारत में कोरोना के मामले 58 लाख के पार…कुल 92,290 लोगों की मौत…24 घंटे में 86,052 नए मामले और 1,141 मौतें।


नई दिल्ली। दुनिया में सबसे ज्यादा तेजी से कोरोना संक्रमण भारत में ही फैल रहा है। देश में पिछले 24 घंटों में 86,052 नए कोरोना मामले दर्ज किए गए हैं। और 1141 लोगों की जान भी चली गई है। दो सितंबर से लगातार देश में एक हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। अच्छी खबर ये है। कि 24 घंटे में 81,177 मरीज ठीक भी हुए हैं। छह दिनों बाद ठीक होने वाले मरीजों की संख्या नए कोरोना संक्रमितों से कम दर्ज की गई है।
स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार, देश में अब कुल कोरोना संक्रमितों की संख्या 58 लाख 18 हजार हो गई है। नमें से 92,290 लोगों की मौत हो चुकी है। एक्टिव केस की संख्या घटकर 9 लाख 70 हजार हो गई और 47 लाख 56 हजार लोग ठीक हो चुके हैं। संक्रमण के एक्टिव केस की संख्या की तुलना में स्वस्थ हुए लोगों की संख्या करीब चार गुना अधिक है।
ICMR के मुताबिक, 24 सितंबर तक कोरोना वायरस के कुल 6 करोड़ 89 लाख सैंपल टेस्ट किए जा चुके हैं। जिनमें से 15 लाख सैंपल की टेस्टिंग कल की गई।
मृत्यु दर में गिरावट
राहत की बात है। कि मृत्यु दर और एक्टिव केस रेट में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। मृत्यु दर गिरकर 1.58% हो गई।  इसके अलावा एक्टिव केस जिनका इलाज चल है। उनकी दर भी घटकर 17% हो गई है। इसके साथ ही रिकवरी रेट यानी ठीक होने की दर 82% पर है। भारत में रिकवरी रेट लगातार बढ़ रहा है।
देश में सबसे ज्यादा एक्टिव केस महाराष्ट्र में हैं। महाराष्ट्र लगातार कोरोना की सबसे बुरी मार झेलने वाला राज्य बना हुआ है। यहां अब तक 12 लाख मामले और 33 हजार मौतें दर्ज हो चुकी हैं। इसके बाद आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश हैं। इन पांच राज्यों में सबसे ज्यादा एक्टिव केस हैं। एक्टिव केस मामले में दुनिया में भारत का दूसरा स्थान है। कोरोना संक्रमितों की संख्या के हिसाब से भारत दुनिया का दूसरा सबसे प्रभावित देश है। मौत के मामले में अमेरिका और ब्राजील के बाद भारत का नंबर है।            


सिपाही ने थाने में खुद को गोली से उड़ाया

प्रतापगढ़ के थाने में सिपाही आशुतोष यादव ने खुद को गोली से उड़ाया!


बृजेश केसरवानी


प्रतापगढ़। गोली लगने से संदिग्ध दशा में हुई मौके पर मौत। मौत के बाद पुलिस महकमे में मचा हड़कम्प । थाना परिसर में पत्रकारों के प्रवेश पर पुलिस ने लगाया प्रतिबंध । 2018 बैच का बताया जा रहा है मृतक सिपाही।पुलिस का कोई भी अधिकारी इस घटना पर मुह खोलने को नही है तैयार । एएसपी समेत भारी पुलिस बल मौजूद । घटना की जाँच में जुटी पुलिस । लालगंज कोतवाली परिसर की घटना।               


भाकियू ने संपूर्ण भारत में किया चक्का जाम

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी


भारत सरकार के द्वारा किसानों के लिए जारी किए गए तीनों अध्यादेश वापस लेने और एमएसपी लागू करने को लेकर भारतीय किसान यूनियन ने संपूर्ण भारत में किया चक्का जाम


हापुड़। भारत सरकार के द्वारा किसानों के लिए जारी किए गए तीनों अध्यादेश के विरुद्ध भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने तीनों अध्यादेश को किसान विरोधी बताते हुए वापस लेने एमएसपी लागू करने को लेकर सैकड़ों की संख्या में ट्रैक्टर ट्राली में भरकर भारतीय किसान यूनियन कार्यकर्ताओ ने नारेबाजी करते हुए। ततारपुर बाईपास पर नेशनल हाईवे को किया जाम, आसपास के थानों की भारी पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे एडीएम जयनाथ यादव एसपी सर्वेश कुमार मिश्र के द्वारा भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं को शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील के साथ समझाने का प्रयास जारी हैं।               


उत्तर-प्रदेश पुलिस ने अवैध शराब बरामद की

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार
सिम्भावली पुलिस ने अवैध शराब की बरामद


हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ के थाना सिंभावली क्षेत्र में चेकिंग के दौरान आईसर कैंटर में अवैध रूप से ले जा रही शराब को पुलिस ने बरामद किया है। आपको बता दे कि थाना सिंभावली क्षेत्र मैं पुलिस द्वारा चेंकिग की जा रही थी तभी तेज रफ्तार आईसर केंटर गाड़ी को रुकने का इशारा किया गया तो ड्राइवर भगाने लगा वही पुलिस ने आरोपी चालक को धर दबोचा है जिसके पास से 270 अवैध शराब की पेटी जिसकी कीमत लगभग 12 लाख बताई जा रही है। शातिर तस्करो ने केंटर गाड़ी पर भारतीय डाक विभाग लिख कर अवैध शराब की तस्करी कर रहे थे।               


विवाद को लेकर दो पक्षों में खूनी संघर्ष

अतुल त्यागी


जमीनी विवाद को लेकर दो पक्षों में खूनी संघर्ष


हापुड़। उत्तर प्रदेश के जनपद हापुड़ के थाना धौलाना के गांव बीघापुर में दो पक्षों में जमीन के कब्जे को लेकर खूनी संघर्ष हो गया। जिसमें दोनों पक्षों से करीब आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। झगड़े की सूचना पाकर मौके पर पहुंची थाना धौलाना पुलिस ने घायलों को धौलाना के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां दोनों पक्षों से तीन लोगों की हालत गंभीर देखते हुए मेरठ मेडिकल की लिया रेफर कर दिया।वही पीड़ित दलित महिला सुकन्ति ने बताया की ग्राम प्रधान ने उनकी करीब 6 बीघा जमीन पर अवैध कब्जा किए हुए हैं जिसकी शिकायत कई बार प्रशासनिक अधिकारियों से की लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। दबंग ग्राम प्रधान द्वारा उनकी जमीन पर अवैध कब्जा किया जा रहा था जिसको रोकना चाहा तो ग्राम प्रधान के लोगों ने उन पर हमला कर दिया। जिसकी वजह से करीब हमारी तरफ से आधे दर्जन लोग घायल हो गए है।               


सेना से मुठभेड़, दो आतंकी मार गिराए

अनंतनाग। जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले में शुक्रवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादी मारे गए। आधिकारिक सूत्रों ने यहां बताया कि सुरक्षा बलों ने एक गांव में गुरुवार रात से स्थगित अभियान शुक्रवार को सूरज की पहली किरण के साथ दोबारा शुरू कर दिया।


गांव में गुरुवार को घेराबंदी एवं तलाश अभियान के दौरान आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ हुई थी। अंधेरा घिरने के बाद अभियान रोक दिया गया था। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में खुफिया सूचना मिलने पर बिजबेहरा के सिरहामा में अभियान चलाया गया हालांकि सुरक्षा बल के जवान गांव में एक विशेष मकान की ओर बढ़ रहे थे, तो वहां छिपे आतंकवादियों ने गोलीबारी शुरू कर दी और हथगोले भी फेंके।             


पौष्टिकता,औषधीय गुणों से भरपूर लहसुन

लहसुन पहाड़ी क्षेत्रों की एक प्रमुख नगदी/व्यवसायिक फसल है। पारंपरिक रूप से उगाई जाने वाली लहसुन जैविक होने के साथ ही अधिक पौष्टिक, स्वादिष्ट व औषधीय गुणों से भरपूर भी होती है जिस कारण बाजार में इसकी मांग अधिक रहती है। उद्यान विभाग के वर्ष 2015-16 में दर्शाये गये आंकड़ों के अनुसार राज्य में 1530.45 हैक्टर क्षेत्र फल में लहसुन की खेती की जाती है जिससे 9768.25 मैट्रिक टन उत्पादन होता है।


जलवायु – ऐसी जगह जहां न तो बहुत गर्मी हो और न ही बहुत ठण्डा लहसुन की खेती के लिए उपयुक्त है। लहसुन की खेती 1000 से 1500 मीटर तक की ऊंचाई वाले क्षेत्र जहां तापमान 25 – 35 डिग्री सेल्सियस रहता हो आसानी से की जा सकती है।             


अवैध शराब की तीन भट्टीयों पर छापामारी

राजीव सक्सेना


नानकमत्ता। नदी किनारे चल रही तीन अवैध कच्ची शराब की भट्टियों पर पुलिस ने छापामार कार्रवाई करते हुए मौके से शराब बनाने के उपकरण तथा तैयार शराब बरामद की। छापे की भनक लगते ही शराब तस्कर मौके से फरार हो गए। जिनके विरुद्ध पुलिस ने आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत किया है।


शुक्रवार को थाना अध्यक्ष कमलेश भट्ट ने जानकारी देते हुए बताया कि मुखबिर द्वारा सूचना दी गई कि थाना क्षेत्र के ग्राम सलमता के पास से बहने वाली खकरा नदी के किनारे शराब तस्करों द्वारा अवैध शराब की भट्टियों का संचालन किया जा रहा है। सूचना के आधार पर पुलिस ने ताबड़तोड़ छापामार कार्रवाई करते हुए खकरा नदी के किनारे चल रही तीन अवैध कच्ची शराब की भट्टीयों के ठिकानों पर छापामारी करते हुए शराब बनाने के उपकरण तथा मौके से 80 लीटर तैयार शराब बरामद की। इस दौरान पुलिस ने हजारों लीटर लहान भी नष्ट किया। थाना अध्यक्ष ने बताया कि छापे की भनक लगते ही शराब तस्कर स्वर्ण सिंह पुत्र महेंद्र सिंह, प्रेम सिंह पुत्र महेंद्र सिंह तथा कृपाल सिंह पुत्र दारा सिंह निवासी देवकली सलमता पुलिस को चकमा देकर मौके से फरार हो गये। फरार तीनों शराब तस्करों के विरुद्ध पुलिस ने आबकारी अधिनियम की धारा (60)2 के तहत अभियोग पंजीकृत किया है।                 


किराया वापसी का फैसला सुरक्षित रखा

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने लाकडाउन के दौरान रद उड़ानों के यात्रियों के पूरे पैसे वापस करने के मामले में शुक्रवार को फैसला सुरक्षित रख लिया। न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति आर. सुभाष रेड्डी और न्यायमूर्ति एम आर शाह की खंडपीठ ने गैर-सरकारी संगठन प्रवासी लीगल सेल की याचिका पर सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया।


इससे पहले सुनवाई के दौरान सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सरकार को केवल यात्रियों की चिंता है। उन्होंने कहा कि अगर किसी ट्रेवल एजेंट ने विमानन कंपनियों के पास अग्रिम पैसे जमा कराए हैं तो उस पर उसे कुछ नहीं कहना। यह विमानन कंपनियों और ट्रेवल एजेंट के बीच एक करार है और नागरिक विमानन महानिदेशालय को इससे कोई लेनादेना नहीं है। इस बीच विमानन कंपनी गो एयर के वकील ने कहा कि कंपनी वित्तीय कठिनाइयों से गुजर रही है। इस पर न्यायमूर्ति भूषण ने कहा कि आपकी कंपनी को दिक्कत है इसके लिए यात्री क्यों सफर करे? इसके बाद न्यायालय ने फैसला सुरक्षित रख लिया।                      


संक्रमित महिला की आत्महत्या, रिपोर्ट मांगी

श्रीराम मौर्य/राकेश चंदेल


शिमला। हिमाचल प्रदेश हाईकोर्ट ने संज्ञान लेते हुए प्रदेश सरकार से पूछा है कि कोरोना संक्रमित महिला आत्महत्या मामले में अब तक क्या कार्रवाई की गई। हाईकोर्ट ने सरकार से रिपोर्ट मांगी है। गौरतलब है कि मंगलवार को चौपाल की रहने वाली कोरोना संक्रमित महिला ने शिमला के रिप्पन अस्पताल में आत्महत्या कर ली थी। महिला के परिजनों ने भी अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही के गंंभीर आरोप लगाए। प्रदेश सरकार ने भी इस पूरे मामले की जांच के आदेश दिए हैं। वहीं डीसी शिमला ने भी एडीएम से दस दिन के भीतर मामले की जांच रिपोर्ट देने को कहा है।               


एससीः एसएमसी शिक्षकों की एलएसपी मंजूर

श्रीराम मौर्य/राकेश चंदेल


नई दिल्ली/शिमला। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में बीते कई सालों से सेवाएं दे रहे एसएमसी शिक्षकों की एसएलपी सुप्रीम कोर्ट में मंजूर हो गई है। मामले की आगामी सुनवाई आठ अक्तूबर को तय हुई है। इस दौरान हिमाचल हाईकोर्ट की ओर से 2630 एसएमसी शिक्षकों की नियुक्तियां रद्द किए जाने के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई होगी।
वीरवार को सुप्रीम कोर्ट ने शिक्षकों की एसएलपी मंजूर करते हुए प्रदेश सरकार को भी अपनी ओर से एसएलपी दायर करने को कहा। वहीं, प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से अपनी एसएलपी दायर करने के लिए समय मांगा इस पर कोर्ट ने 8 अक्तूबर से पहले प्रक्रिया पूरी करने को कहा। प्रदेश सरकार से एसएमसी शिक्षकों की संख्या, उनके द्वारा दी जा रही सेवाओं वाले क्षेत्रों सहित उन्हें और नियमित शिक्षकों को दिए जा रहे वेतन का पूरा ब्योरा देने के निर्देश भी सुप्रीम कोर्ट ने दिए हैं। हिमाचल हाईकोर्ट ने बीते दिनों एसएमसी शिक्षकों की नियुक्तियों को रद्द करने का फैसला सुनाते हुए इनकी जगह आगामी छह माह में नियमित शिक्षकों की भर्ती करने का फैसला दिया था।
साल 2012 से दुर्गम और जनजातीय क्षेत्रों के स्कूलों में सेवाएं दे रहे इन शिक्षकों की नौकरी संकट में पड़ने के बाद हरकत में आई प्रदेश सरकार ने इस बाबत कैबिनेट बैठक में विस्तृत चर्चा की थी। मुख्यमंत्री ने शिक्षकों को लेकर मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कही थी।इसी बीच शिक्षकों ने सुप्रीम कोर्ट में हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती देते हुए एसएलपी दायर की थी। वीरवार को सुप्रीम कोर्ट ने एसएलपी को मंजूर कर दिया है। अब सरकार भी अपनी ओर से एसएलपी दायर करेगी। आगामी सुनवाई के दौरान प्रदेश सरकार की ओर से भी सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठ अधिवक्ताओं को पैरवी के लिए खड़ा किया जाएगा।                    


प्रदेश में मेडिकल उपकरणों का उत्पादन होगा

श्रीराम मौर्या/राकेश चंदेल


शिमला। हिमाचल के जिला ऊना में पहला मेडिकल डिवाइस पार्क विकसित करने का फैसला ले लिया गया है। प्रदेश में 100 करोड़ की लागत से यह पार्क विकसित होगा। सरकार ने पार्क स्थापित करने को जिला ऊना में 1100 एकड़ जमीन चयनित की है। अब प्रदेश सरकार जल्द ही ऊना के टाहलीवाल के पास पार्क विकसित करने के लिए केंद्र को प्रस्ताव भेजने वाली है। दरअसल प्रदेश सरकार अभी तक तय नहीं कर पाई थी कि मेडिकल डिवाइस पार्क स्थापित करने के लिए उपयुक्त जगह कौन सी होगी।अब प्रदेश सरकार ने स्थान का चयन कर लिया है। बताया जा रहा है कि उद्योग विभाग के नाम यह जमीन करने की सभी औपचारिकताएं पूरी हो चुकी हैं।             


अमेजॉन इको स्मार्ट स्पीकर लॉन्च किए

नई दिल्ली। अमेजन 2020 एनुअल इवेंट में अमेजन कंपनी ने नए इको स्मार्ट स्पीकर लॉन्च किए। इस इवेंट में कंपनी ने नेकस्ट जेनरेशन के फायर टीवी डिवाइस भी लॉन्च किए हैं। जिसमें फायर टीवी स्टिक और फायर टीवी स्टिक लाइट शामिल हैं। भारत में इन फायर टीवी डिवाइसों की कीमत ऐलान भी हो चुका है। अगली पीढ़ी के फायर टीवी स्टिक की कीमत-3,999 है, जबकि फायर टीवी स्टिक लाइट की कीमत 2999 रुपये है। ये दोनों डिवाइस आज से भारत में प्री-ऑर्डर के लिए उपलब्ध हैं।


क्या है विशेषताएँ


जहां तक विशेषताओं की बात है फायर टीवी स्टिक 1.7 गीगाहर्ट्ज क्वाड-कोर प्रोसेसर के साथ आती है, कंपनी का कहना है कि नए फायर स्टिक पिछली जेनरेशन के स्टिक की तुलना में 50 प्रतिशत ज्यादा शक्तिशाली है और उनकी तुलना में 50 प्रतिशत कम बिजली की खपत करता है। इसमें डुअल-बैंड, डुअल-एंटीना वाईफाई है जो स्टेबल स्ट्रीमिंग और ड्रोप्ड कनेक्शन के लिए 5 गीगाहर्ट्ज नेटवर्क को सपोर्ट करता है।               


पत्रकारों के हित में योगी ने फिर की घोषणा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की कि राज्य में मान्यता प्राप्त पत्रकारों को प्रतिवर्ष पांच लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर दिया जाएगा। इसके अलावा कोरोना वायरस संक्रमण से किसी पत्रकार की मौत होने पर उसके परिजन को दस लाख सरकार रुपए की आर्थिक सहायता दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने ये घोषणाएं राजधानी में नवनिर्मित पंडित दीन दयाल उपाध्याय सूचना परिसर भवन के उद्घाटन के दौरान कीं। उन्होंने कहा कि सूचना विभाग शासन और प्रशासन के कार्यों को मीडिया तक पहुंचाने के लिए एक सेतु का काम करता है। उन्होंने कहा, ‘किसी भी सरकार के कार्यों का आम जनमानस तक पहुंचाने का एक सशक्त माध्यम सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय होता है। शासन का काम योजनाएं बनाना होता है और प्रशासन उसे विभिन्न माध्यमों से आम जन तक पहुंचाता है, लेकिन जनता, शासन और प्रशासन के बीच में एक महत्त्वपूर्ण सेतु के रूप में मीडिया की भूमिका को नकारा नहीं जा सकता।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के मान्यता प्राप्त पत्रकारों को राज्य सरकार प्रतिवर्ष पांच लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा कवर देगी। इसके अलावा कोरोना वायरस संक्रमण से किसी पत्रकार की मृत्यु होने पर उसके परिजन को दस लाख रुपए की आर्थिक सहायता दे जाएगी। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में मीडियाकर्मी काम कर रहे है और पत्रकारों को पूरी सुरक्षा और जागरुकता के साथ काम करते हुए संक्रमण से बचना चाहिए। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राज्य में इन्सेफलाइटिस कुछ साल तक एक जान लेवा बीमारी थी जो धीरे-धीरे पूरे पूर्वी उत्तर प्रदेश को अपनी चपेट में ले चुकी थी, लेकिन प्रधानमंत्री स्वच्छता मिशन कार्यक्रमों और प्रदेश सरकार की योजनाओं की बदौलत इस बीमारी को समाप्त करने में सफलता मिली।                  



अब अतीक से प्रशासन खर्च भी वसूलेगा

 बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। अनेक आपराधिक गतिविधियों में तथाकथित रूप से शामिल समाजवादी पार्टी के पूर्व सांसद अतीक अहमद का मकान, कार्यालय और कॉम्पलेक्स ढहाने के बाद अब प्रशासन उसे तोड़ने का खर्च भी वसूलेगा। इसमें जेसीबी का किराया, मजदूरों की दिहाड़ी के साथ ही अधिकारियों और पुलिस फोर्स का खर्च भी अतीक से वसूला जाएगा। इसके लिए प्रयागराज विकास प्राधिकरण, प्रशासन और पुलिस के अधिकारी अपने विभागों का खर्च का हिसाब तैयार कर रहे हैं। करीब 25 लाख रुपये खर्च आने का अनुमान लगाया गया है। अदायगी न होने पर अतीक के खिलाफ आरसी जारी की जाएगी। प्रयागराज विकास प्राधिकरण अब तक अतीक के मकान, कार्यालय समेत दस भवनों को गिरा चुका है। इस कार्रवाई में पुलिस और जिला प्रशासन भी शामिल रहा है। पीडीए की कार्रवाई में आधा दर्जन अधिकारी, प्रवर्तन दल की पूरी टीम के साथ पचास की संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद रहते हैं। प्रत्येक कार्रवाई में चार से छह जेसीबी का इस्तेमाल किया जाता है।अतीक का मकान और कार्यालय खाली कराने में 70 से ज्यादा मजदूर लगाए गए थे। अधिकारी से लेकर कर्मचारी तक का एक-एक दिन का वेतन भी अतीक से लिया जाएगा। कार्रवाई में पीडीए की जेसीबी के साथ किराए के जेसीबी भी लगाए गए थे। पुलिस के साथ ही पीएसी की एक कंपनी भी मकान के ध्वस्तीकरण में लगाई गई थी। इस सभी का खर्च अब अतीक से वसूले जाने की तैयारी चल रही है। सूत्रों की मानें तो अतीक के खिलाफ हुई कार्रवाई में हुए खर्च का हिसाब एक सप्ताह में तैयार कर लिया जाएगा।             


गाजियाबादः प्लास्टिक फैक्ट्री में भीषण आग

अश्वनी उपाध्याय


गाज़ियाबाद। जिले के टीला मोड़ इलाके में प्लास्टिक की फैक्ट्री में भीषण आग लग गई। आग लगने से लाखों रुपए के नुकसान की खबर है। हालांकि कहा ये भी जा रहा है कि फैक्ट्री अवैध रूप से चलाई जा रही थी। दमकल की 5 गाड़ियों ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पाया। अभी तक आग लगने के कारणों का पता नहीं चल पाया है। फिलहाल इस बात की भी जांच की जा रही है कि ये अवैध फैक्ट्री इलाके में कब से, और किसकी मिलीभगत से चलाई जा रही थी।राहत की बात ये है कि घटना में किसी के घायल या हताहत होने की खबर नहीं है। बताया ये भी जा रहा है कि अवैध रूप से चल रही प्लास्टिक की फैक्ट्री और गोदाम में आग बुझाने के इंतजाम भी नहीं थे। सूत्रों के अनुसार यहां पर काम करने वाले लोगों की जिंदगी खतरे में डाली जा रही थी। अगर दमकल की जांच में यह तमाम चीजें पूरी तरह से स्पष्ट हो जाती हैं, तो फैक्ट्री मालिक पर मुकदमा दर्ज कर उसकी गिरफ्तारी भी की जा सकती है। फैक्ट्री में से भारी मात्रा में प्लास्टिक के तार  के अलावा पॉलीथिन का मेटीरियल भी बरामद किया गया है।


जहरीले धुएँ से परेशान लोग घरों से बाहर निकले


फैक्ट्री से थोड़ी ही दूरी पर टीला मोड़ का रिहायशी इलाका भी है। जिस समय आग लगी, उसकी लपटें काफी ऊपर तक देखी जा सकती थी। इसके अलावा धुएं के गुब्बार को देख लोग घरों से बाहर आ गए। रात के अंधेरे में आग की ऊंची ऊंची लपटें दूर से ही नजर आने लगी थी।               


बना सकते हैं तो बिगाड़ भी सकते हैंः किसान

अन्नदाताओं ने दी सरकार को चेतावनी बना सकते हैं। तो गिरा भी सकते हैं।


कृषि बिल से दुकानदारी बंद होने के डर से नेता हुए चौकन्ने
ज़ाकिर घुरसेना। कैलाश यादव


नई दिल्ली। पिछले दिनों कृषि बिल को लेकर सड़क से लेकर संसद तक बवाल मचा हुआ हैं। कांग्रेस ने विरोध में बिल की कॉपी फाड़ दी थी। एवं कई विपक्षी दलों के सांसदों ने संसद में काफी हंगामा मचाया। लेकिन बहुमत बीजेपी का है। और बिल आखिरकार पास हो ही गया। भाजपा का कहना है। कि कांग्रेस किसान विरोधी है। अब ये समझ में नहीं आ रहा कि किसान हितैषी कौन है। भाजपा के सहयोगी दल भी इस बिल के विरोध में है। अकाली दल के प्रतिनिधि और केंद्र के मंत्री ने तो इस बिल के विरोध में इस्तीफा भी दे दिया। एक किसान ने तो जहर भी खा लिया। जनता ये खुसुर-फुसुर कर रही है। कि अगर ये बिल किसानों के हित में है। तो राजनीति क्यों। ये तो ऐसा हो गया कि पहले अंग्रेज व्यापारी बनकर आये और शासन करने लगे अब ये लोग शासक बनकर आये और व्यापार करने लगे। वैसे भी अगर किसानों की आमदानी बढ़ती है तो किसी पार्टी को परेशान होने की जरूरत क्यों पड़ी। राजनीति अन्नदाताओं के समझ से परे है। बहरहाल जो भी हो अन्न दाताओं के साथ अन्याय नहीं होना चाहिए अगर हुआ तो वे सरकार बनाना और बिगाडऩा भी जानते हैं।
मंत्री डॉ शिव डहरिया अचानक दिल्ली गए कोरोना काल में अचानक डॉ शिव कुमार डहरिया दिल्ली गए है। जहां वे पीएल पुनिया से मुलाकात कर चर्चा करेंगे जनता में खुसुर फुसुर है। कि अचानक ऐसी क्या बात हो गई कि मंत्री डॉ डहरिया को दिल्ली जाना पड़ा चारों तरफ राजनीति ही राजनीति अन्नदाता इस बिल से पसोपेश में है। कांग्रेस की माने भाजपा की माने या अन्य विपक्षी दलों की माने। किसानों के मन में शंका-कुशंका पैदा हो रही है। वैसे भी अन्नदाता पहले ही उपज के उचित मूल्य से वंचित है।उनका मानना है। कि मौजूदा व्यवस्था में भी समर्थन मूल्य से कम दामों में उपज को बेचने की मजबूरी है। और अगर इस बिल से किसानों को देश व्यापी बाजार मिलता है। और आड़तियों, दलालों से मुक्ति मिलती है। साथ ही उपज का अच्छा दाम मिलता है। तो यह किसानों के हित में है, अगर नहीं है। तो अन्नदाताओं की पेराई होगी जो किसी भी पार्टी के लिए ठीक नहीं है।
सपनों में जान होना चाहिए
कहते है कि मंजिल उन्हें ही मिलती है। जिनके हौसलों में जान होती है। पंखों से नहीं हौसलों से उड़ान होती है। और यही हमारे अन्नदाता कर रहे है। अपनी लड़ाई सड़क से लेकर संसद तक खुद लड़ रहे है और राजनीतिक दल खुद-ब खुद उनके साथ जुड़ रहे है।
एनसीबी रायपुर में भी करे कार्रवाई
लोग सुशांत केस से अब ऊब चुके है। क्योंकि जाँच की दिशा बदल गई है। ऐसा लगता है। जो भी हो ये भी आवयश्क था। रायपुर की जनता में खुसुर-फुसुर हो रही है कि एनसीबी जैसी कार्यवाही रायपुर में भी होनी चाहिए। हर मौहल्लों में नशे के कारोबारी मिल जायेंगे। जुआ, सट्टा और नशीली दवाई के अवैध कारोबारियों को छुटभैया नेताओं का संरक्षण होता है। जिसकी वजह से कई अपराधी तो थाने से ही छूट जाते है। शहर को अवैध कारोबार नशीली दवाई, चरस, गांजा, सिरप आदि के कारोबारियों ने जकड़ लिया है। शासन को चाहिए इस पर कड़ा से कड़ा कानून लागू करना चाहिए। ताकि नौनिहालों को इस नासूर से बचाया जा सके। हम करे तो खता तुम करो तो अदा
अभी हाल में ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार के विकास के लिए करोड़ों रूपये की सौगात दी। अभी बिहार में विधान सभा चुनाव होना है। इधर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मरवाही के विकास के लिए करोड़ों रूपये देने की घोषणा की। अब भाजपा नेता कह रहे है। कि उपचुनाव सामने है। इसलिए सरकार ने घोषणाओं की झड़ी लगा दी है। जनता में खुसुर-फुसुर है। कि बिहार में भी प्रधानमंत्री ने अरबों की घोषणा की। वहां भी तो चुनाव है। ये तो ऐसा हो गया। हम करे तो खता तुम करो तो अदा।
क्या यही विकास का फार्मूला है।
जम्मू कश्मीर की शोपियां में पिछले 18 जुलाई को तीन लड़कों को मुठभेड़ में मार दिया गया। सुरक्षाबलों ने बताया था। कि इनके पास से भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद किया गया था। ये खूंखार आतंकवादी थे। अब घर वालों के शिकायत पर जाँच हुई तो मुठभेड़ फर्जी निकला। मरने वाले तीनों मजदूर निकले। जनता में खुसुर-फुसुर है। कि जवानों को विशेषाधिकार कानून का उल्लघंन करने का छूट किसने दिया। उच्च पदस्थ अधिकारियों ने पीडि़त परिवार को ये बोलकर चलता कर दिया कि भविष्य में किसी परिवार के साथ अन्याय नहीं होने देंगे लेकिन तीन परिवार के चिराग तो बुझ गए। इंसान के जिंदगी की कीमत जानवरों से भी कम और बदत्तर हो गई है। क्या यही विकास का फार्मूला है।              


बिहार चुनावः तीन चरणों में होगा मतदान

चुनाव आयोग ने की बिहार चुनाव की तारीखों का ऐलान…जानिए कब होगी वोटिंग


पटना। 28 अक्टूबर से 3 चरणों में होगा बिहार चुनाव मतगणना 10 नवंबर को बिहार में तीन चरणों में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान होंगे।
पहले चरण में 71 सीटों पर चुनाव 31 हजार पोलिंग स्टेशन
दूसरे चरण में 94 सीटों पर चुनाव 42 हजार पोलिंग स्टेशन
तीसरे चरण में 78 सीटों पर चुनाव 33.5 हजार पोलिंग स्टेशन
मतदान का समय एक घंटा बढ़ाया गया है। अब सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक मतदान होंगे। सुनील अरोड़ा मुख्य चुनाव आयुक्त।
एक बूथ में एक हजार से अधिक नहीं होंगे मतदाता 6 लाख पीपीई किट, 7 लाख हैंड सैनेटाइजर का होगा इस्तेमाल
जनता से रिश्ता वेबडेस्क। चुनाव आयोग की प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू हो गई है। और अब चुनाव तारीखों का ऐलान हो रहा है। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि कोरोना संकट की वजह से दुनिया के 70 देशों में चुनावों को टाल दिया गया। कोरोना संकट के बीच बिहार और उपचुनावों को लेकर लगातार मंथन किया गया। बिहार चुनाव देश के सबसे बड़े राज्यों में है। और ये चुनाव कोरोना काल का सबसे बड़ा चुनाव है।
बिहार में कुल 243 सीटों पर चुनाव होगा राज्य में 29 नवंबर तक विधानसभा का कार्यकाल है। इस बार पोलिंग स्टेशन की संख्या और मैनपावर को बढ़ाया गया है। बिहार में 2020 के चुनाव में सात करोड़ से अधिक वोटर मतदान करेंगे इस बार एक बूथ पर सिर्फ एक हजार ही मतदाता होंगे इस बार चुनाव में 6 लाख पीपीई किट राज्य चुनाव आयोग को दी जाएंगी, 46 लाख मास्क का इस्तेमाल भी होगा सात लाख हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल किया जाएगा साथ ही 6 लाख फेस शील्ड को उपयोग में लाया जाएगा 18 लाख से अधिक प्रवासी मजदूर हैं। इनमें से 16 लाख वोट डाल सकते हैं। 80 साल की उम्र तक के लोग पोस्टल बैलेट से वोट डाल पाएंगे।
इस बार वोट डालने के लिए एक घंटा अधिक वक्त रखा गया है। सुबह सात से शाम 6 बजे तक मतदान होगा। लेकिन नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में ऐसा नहीं होगा। डूर टू डूर कैंपेन में सिर्फ पांच लोग ही जा सकेंगे इस बार नामांकन और हलफनामा ऑनलाइन भी भरा जाएगा डिपोजिट को भी ऑनलाइन सबमिट किया जा सकेगा। नामांकन के वक्त उम्मीदवार के साथ सिर्फ दो लोग मौजूद रहेंगे प्रचार के दौरान किसी से हाथ मिलाने की इजाजत नहीं होगी।
मतदान के अंतिम समय में कोरोना पीड़ित अपना वोट डाल सकेंगे जिनके लिए अलग व्यवस्था होगी। प्रचार मूल रूप से वर्चुअल ही होगा। लेकिन डीएम छोटी रैली की जगह और वक्त तय करेंगे। हर पोलिंग बूथ पर साबुन, सैनिटाइजर समेत अन्य चीजों की व्यवस्था की जाएगी।
बिहार में कुल 243 विधानसभा सीटों के लिए चुनाव होगा. 2015 में राजद और जदयू ने मिलकर चुनाव लड़ा था। जिसके कारण भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए को हार का सामना करना पड़ा था। तब राजद, जदयू, कांग्रेस महागठबंधन ने 178 सीटों पर बंपर जीत हासिल की थी। राजद को 80, जदयू को 71 और कांग्रेस को 27 सीटें मिलीं थीं। जबकि एनडीए को 58 सीटें हीं मिली हालांकि लालू यादव की पार्टी राजद के साथ खटपटे होने के बाद नीतीश कुमार ने महागठबंधन से अलग होकर भाजपा के साथ सरकार चलाना शुरू किया। 2020 के बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार एनडीए का चेहरा हैं।             


डेयरडेविल्स के सामने होंगी चुनौतियां, रोमांच

आईपीएल सीजन-13 दिल्ली डेयरडेविल्स के युवाओं के सामने होगी, चेन्नई सुपरकिंग्स के अनुभव की चुनौती रोमांचक होगा मुकाबला।


नई दिल्ली। आईपीएल सीजन-13 में आज दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ चेन्नई सुपरकिंग्स का मुकाबला खेला जाएगा मैच काफी दिलचस्प होने वाला है। क्योंकि ये मुकाबला एक युवा खिलाड़ियों से भरी टीम तो दूसरी अनुभवी खिलाड़ियों से लबरेज टीम के साथ होने जा रहा है। मैच दुबई में खेला जाएगा जिसकी शुरुआत भारतीय समयानुसार शाम 7.30 बजे से होगी।
दिल्ली डेयरडेविल्स के कप्तान श्रेयस अय्यर हैं। और इस टीम में युवा खिलाड़ियों की भरमार है। और टीम के कोच रिकी पोंटिंग हैं। दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम ने अपना पहला मैच किंग्स इलेवन पंजाब से जीता था। मैच सुपर ओवर तक गया था। और उस हाईवोल्टेज मैच में दिल्ली डेयरडेविल्स की टीम ने बाजी मारी थी। इस टीम में पृथ्वी शॉ जैसा युवा खिलाड़ी पारी की शुरुआत करता है। तो वहीं रिषभ पंत और श्रेयस अय्यर जैसे खिलाड़ी मिडिल ऑर्डर की जान हैं। चेन्नई सुपरकिंग्स अनुभव की खान 
चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम को अनुभव की खान कहें तो वही सही होगा क्योंकि चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम एक ऐसी टीम है। जिसमें खुद कप्तान एम एस धोनी अनुभवी खिलाड़ी और अनुभवी कप्तान हैं। इसके अलावा इस टीम में फाफ डुप्लेसिस, शेन वाटसन जैसे अनुभवी खिलाड़ी शामिल हैं। चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम एक ऐसी टीम है। जिसमें अक्सर अनुभवी खिलाड़ियों की भरमार रही है। चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ने अपने पहले मुकाबले में तो मुंबई इंडियंस की टीम को  हरा दिया था। लेकिन दूसरे मुकाबले में जो कि हाई स्कोरिंग मैच रहा राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था।
मैच दुबई में खेला जाएगा जहां मौसम के बिल्कुल साफ रहने का अनुमान है। हलांकि खिलाड़ियों को भीषण गर्मी का सामना जरूर करना पड़ेगा इसके अलावा ओस की भी खेल में अहम भूमिका रहने वाली है। बात पिच की करें तो आबुधाबी के शेख जैद क्रिकेट स्टेडियम की तुलना में दुबई का ये स्टेडियम बिल्कुल अलग है। साइज के हिसाब से ये ग्राउंड भी काफी बड़ा है।                 


नगर पालिका का दर्जा देने की घोषणा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गौरेला और पेन्ड्रा को नगर पालिका का दर्जा देने की घोषणा की।


रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के नवगठित जिले गौरला-पेण्ड्रा-मरवाही के नगर पंचायत गौरेला और नगर पंचायत पेण्ड्रा को नगर पालिका का दर्जा देने की घोषणा की है। गौरतलब है। कि प्रदेश के राजस्व मंत्री और गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले के प्रभारी मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने इन नगर पंचायतों के भ्रमण के दौरान वहां के नागरिकों की इस संबंध में भावनाओं से मुख्यमंत्री को अवगत कराया जिस पर मुख्यमंत्री ने जनभावनाओं को देखते हुए इन दोनों ही नगर पंचायतों को नगर पालिका का दर्जा देने की घोषणा की है।               


शेयर बाजार में आई सबसे बड़ी गिरावट

शैयर बाजार में सबसे बड़ी गिरावट, एक हफ्ते में डूबे निवेशकों के 10 लाख करोड़ रूपये ।


नई दिल्ली। भारतीय शेयर बाजार ने गुरुवार को एक और ऐतिहासिक गिरावट दर्ज की। सेंसेक्स ने 1100 से भी ज्यादा अंकों का गोता लगा डाला। निवेशकों के करोड़ों रूपये डूब गए। शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला जारी है।  बाजार में लगातार छठे कारोबारी सत्र में गिरावट दर्ज की गई। गुरुवार को भी बाजार में बिकवाली का सिलसिला जारी रहा। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स लगभग तीन फीसदी की गिरावट के साथ 1114.82 अंक नीचे गिरकर 36553 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक निफ्टी भी करीब तीन फीसदी 326 अंक की गिरावट के साथ 10805 के स्तर पर बंद हुआ।  गुरुवार को शेयर बाजार का सेशन खत्म होने पर इसमें लिस्टेड कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 152.71 लाख करोड़ रुपये से घटकर 148.98 लाख करोड़ रुपये पर आ गया। खास बात ये है कि छह कारोबारी सत्रों में सेंसेक्स करीब 3000 अंक गिर चुका है और निवेशकों के 10 लाख करोड़ रुपये डूब गए हैं। इस समय बाजार के एक्सपर्ट लोगों को बाजार में निवेश ना करने की सलाह दे रहे हैं।                   


प्रोत्साहन, शादी के बाद मिलेगीं 4.25 लाख

बच्चे पैदा करने सरकार देगी प्रोत्साहन राशि शादी करते ही मिलेंगे 4.25 लाख।


टोक्यो। शादी होते ही जोड़े को करीब 4.25 लाख रुपए मिलेंगे वो इसलिए क्योंकि वो जनसंख्या बढ़ाने बच्चे पैदा करेंगे ये पढ़कर भले आप इस योजना पर यकीन न करें। लेकिन जापान सरकार ने अपने नागरिकों को बच्चे पैदा करने प्रोत्साहन राशि देने का फैसला किया है।
इस योजना के तहत सरकार घर बसाने वाले जोड़ों को 6 लाख येन यानी करीब 4 लाख 25 हजार रुपये प्रोत्साहन के तौर पर देगी। दरअसल जापान में तेजी से जन्म दर गिर रही है। और बुजुर्गों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में जापान की सरकार ने जन्म दर बढ़ाने के लिए अप्रैल महीने से बड़े पैमाने पर कार्यक्रम शुरू किए हैं। आपको बता दें बीते साल जापान में केवल 8 लाख 65 हजार बच्चों ने जन्म लिया था। जबकि मरने वालों की संख्या जन्म लेने वालों की तुलना में 5 लाख 12 हजार ज्यादा थी।
आंकड़ों की बात करें तो जापान पूरे विश्व में जनसंख्या के हिसाब से सबसे बुजुर्ग देश है। यहां की कुल जनसंख्या 12 करोड़ 68 लाख है। सरकार के अनुमान के मुताबिक इस साल देश में जन्म दर 1.8 प्रतिशत रहने की उम्मीद है। जो  पिछले साल की जन्म दर 1.4 प्रतिशत से ज्यादा है। आपको जानकर हैरानी होगी कि जापान में 100 साल की उम्र के लोग सबसे ज्यादा है। लैंसेट की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक अगर जन्म दर में कोई बदलाव नहीं आया तो यहां 2040 तक बुजुर्गों की आबादी 35 प्रतिशत हो जाएगी।                 


तिहाड़ जेल के डीजी हुए कोरोना संक्रमित

कोरोना की चपेट में आए तिहाड़ जेल के DG, रिपोर्ट आई पॉजिटिव।


नई दिल्ली। तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं डीजी गोयल रिपोर्ट आने के बाद आइसोलेशन में चले गए हैं। यही नहीं उनके संपर्क में आने वाले उनके स्टाफ को भी क्वारंटाइन किया गया है। खबर में अपडेट जारी है।               


विधेयक के विरुद्ध किसानों का भारत बंद

कृषि बिल के खिलाफ आज किसानों का भारत बंद जानें किस राज्य में क्या होगा।


नई दिल्ली। केंद्र सरकार के द्वारा लाए गए तीन कृषि बिल का देश के कई राजनीतिक दल और किसान संगठन विरोध कर रहे हैं। इन्हीं बिलों के विरोध में काफी दिनों से प्रदर्शन हो रहे हैं। और आज दर्जनों संगठनों ने भारत बंद बुलाया है। ऐसे में दिल्ली से लेकर पंजाब, हरियाणा उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में किसान सड़क पर उतरेंगे और बिल को वापस लेने की मांग करेंगे। किसानों के द्वारा बुलाए गए भारत बंद को कांग्रेस समेत कई राजनीतिक दलों ने समर्थन भी दिया है। किसानों के भारत बंद को किनका समर्थन। कृषि बिल के विरोध में 25 सितंबर को बुलाया गया भारत बंद कई संगठनों के द्वारा बुलाया गया है। लेकिन इसकी अगुवाई ऑल इंडिया किसान संघर्ष कॉर्डिनेशन कमेटी ऑल इंडिया किसान महासंघ और भारतीय किसान यूनियन कर रहे हैं. इस बंद के समर्थन में कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, लेफ्ट, टीएमसी, डीएमके, टीआरएस समेत कुल 18 राजनीतिक दलों ने अपनी आवाज़ उठाई है।
इनके अलावा CITU, AITUC, हिन्द मज़दूर सभा समेत कुल दस केंद्रीय ट्रेड यूनियन ने भी अपना समर्थन बंद को दिया है।
भारत बंद में क्या होगा।
किसानों की ओर से अभी भी कई जगह रेल रोको और रास्ता रोको का अभियान चलाया जा रहा है। जो भारत बंद के दौरान व्यापक स्तर पर हो सकता है। ऐसे में इनका असर खासकर उत्तर भारत और उन राज्यों में दिखेगा जहां किसानों की मौजूदगी अधिक है।
इन दो राज्यों में इस बिल का व्यापक तौर पर विरोध हो रहा है। कई बार यहां किसानों पर लाठीचार्ज भी हुआ है। किसानों के द्वारा यहां रेल रोको अभियान चलाया जाएगा. पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने प्रदर्शनकारियों से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की है. साथ ही आज धारा 144 के उल्लंघन पर कोई FIR दर्ज नहीं होगी।
आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने किसानों के बंद का समर्थन किया है। किसानों की ओर से दिल्ली-एनसीआर बॉर्डर बंद करने की चेतावनी दी गई है।
यहां पर भारतीय किसान यूनियन ने गांव। कस्बे और जिला स्तर पर हाईवे जाम करने की बात कही है। BKU को कई स्थानीय ट्रेडर बॉडी और किसानों का समर्थन मिला है।
लेफ्ट पार्टी से जुड़े ऑल इंडिया किसान सभा ने यहां पर बंद बुलाया है। इस दौरान रास्ते रोके जाएंगे उनके अलावा कई छोटे किसान संगठन मंडी संगठन ने बंद का समर्थन किया है।
ऑल इंडिया किसान सभा महाराष्ट्र में सबसे बड़े किसान ग्रुपों में से एक है। इस संगठन में तीन लाख से अधिक किसान हैं। जिन्होंने राज्य के 21 जिलों में व्यापक प्रदर्शन की बात कही है।             


पंजाब-हरियाणा में ज्यादा हुआ प्रदर्शन

पूरे देश में कृषि बिल के खिलाफ सड़कों पर उतरेंगे किसान पंजाब और हरियाणा में ज्यादा प्रदर्शन।


चंडीगढ़। संसद में अभी हाल में पारित किए गए दो कृषि बिलों के खिलाफ किसान संगठनों ने शुक्रवार को भारत बंद बुलाया है। इस विरोध प्रदर्शन में पंजाब और हरियाणा के ज्यादा किसान शामिल होने जा रहे हैं। इसके अलावा देश के 31 किसान संगठनों ने इस बंद का समर्थन किया है।
भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) ने पहले ही ऐलान कर दिया है। कि कृषि बिलों के खिलाफ भारत बंद को उसका पूर्ण समर्थन रहेगा। पंजाब में इस बिल का विरोध काफी पहले से जारी है। भारतीय किसान यूनियन (एकता उग्रहण) के महासचिव सुखदेव सिंह ने पंजाब के दुकानदारों से अपील की है। कि भारत बंद पर वे अपनी दुकानें बंद रखें और किसानों का समर्थन करें।
पंजाब में गुरुवार को किसानों ने तीन दिन तक रेल यातायात ठप करने का अभियान चलाया किसान कई जगह रेल लाइनों पर बैठ गए हैं। पंजाब के किसानों ने यह भी कहा है। कि सरकार अगर उनकी बात नहीं मानती है। तो 1 अक्टूबर से अनिश्चितकाल के लिए रेल यातायात ठप किया जाएगा।
हरियाणा में भी कमोबेश यही हाल है। हरियाणा भारतीय किसान यूनियन के प्रमुख गुरनाम सिंह ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा कि बीकेयू के अलावा और भी कई किसान संगठनों ने भारत बंद का समर्थन किया है। गुरनाम सिंह ने कहा कि उन्होंने किसानों से अपील की है। कि शांतिपूर्वक सड़कों और स्टेट हाइवे पर बैठ कर धरना प्रदर्शन करें। गुरनाम सिंह के मुताबिक नेशनल हाइवे पर किसी प्रकार के धरना प्रदर्शन की अपील नहीं की गई है।  सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक चलने वाले धरना प्रदर्शन में किसी को हिंसक काम करने की इजाजत नहीं होगी।
भारतीय किसान यूनियन का कहना है। कि भारत बंद में कमिशन एजेंट दुकानदार और ट्रांसपोर्टर्स से अपील की गई है। कि वे ज्यादा से ज्यादा संख्या में इसमें भाग लें और किसानों की बात उठाएं। उधर बंद को देखते हुए हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने गुरुवार को प्रदेश के आला अधिकारियों के साथ बैठक की और हालात की जानकारी ली। अनिल विज ने प्रदेश के डीजीपी को निर्देश दिया कि किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पुलिस बल को तैयार रहना चाहिए।  इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने किसानों से अपील की कि वे कानून-व्यवस्था का पूरा ख्याल रखें और कोरोना के सेफ्टी प्रोटोकॉल के तहत ही विरोध प्रदर्शन करें।
बंद को कई पार्टियों का समर्थन
किसानों की ओर से बुलाए गए इस बंद का कांग्रेस ने पूरा समर्थन किया है। कांग्रेस पार्टी ने कहा कि शुक्रवार को भारत बंद में उसके लाखों कार्यकर्ता किसानों के साथ धरना में शामिल होंगे। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने गुरुवार को नई दिल्ली में कहा कि किसान पूरे देश का पेट भरते हैं। लेकिन मोदी सरकार किसानों के खेत पर हमला कर रही है. भारत बंद का समर्थन करते हुए रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट में लिखा कांग्रेस पार्टी और राहुल गांधी भारत बंद पर किसानों के साथ खड़े हैं। कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता धरना एवं विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेंगे कांग्रेस पार्टी ने तय किया है। कि शुक्रवार को हर राज्य में विरोध मार्च निकाला जाएगा इसके बाद 28 सितंबर को हर राज्य के राज्यपाल को इस बाबत एक ज्ञापन सौंपा जाएगा।
समाजवादी पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल ने भी किसान आंदोलन को समर्थन देने का ऐलान किया है. राष्ट्रीय जनता दल ने एक बयान में कहा कि एनडीए सरकार द्वारा किसान विरोधी विधेयक पास करने के खिलाफ कल (शुक्रवार) सुबह 9 बजे नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव अपने आवास से किसानों और समर्थकों के साथ विरोध प्रदर्शन करते हुए पार्टी कार्यालय जाएंगे यूपी में समाजवादी पार्टी ने भी कहा है। कि कल सभी जिलों में डीएम को ज्ञापन सौंपा जाएगा समाजवादी पार्टी कृषि एवं श्रम कानून के विरोध में जिलाधिकारी के माध्यम से राज्यपाल को ज्ञापन सौंपेगी सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव के निर्देश पर कार्यकर्ता प्रदेश भर में प्रदर्शन करेंगे। उधर पंजाब में आम आदमी पार्टी ने पहले ही ऐलान किया है। कि वह भारत बंद का समर्थन करेगी लगभग 30 किसान संगठन भारत बंद पर सड़कों पर उतरने के लिए तैयार हैं। इससे पहले गुरुवार को पंजाब आम आदमी पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल वीपी सिंह वडनोरे से मिला और अपना ज्ञापन राष्ट्रपति तक पहुंचाने का आग्रह किया ज्ञापन में राष्ट्रपति से कृषि बिल को मंजूर नहीं करने का आग्रह किया गया है। बता दें अभी हाल ही में संसद ने कृषि सुधारों से जुड़े दो बिल पारित किए हैं। जिस पर राजनीति तेज हो गई है। विपक्षी दल सरकार के खिलाफ सड़कों पर उतरने की तैयारी में हैं। विपक्षी दलों की मांग है। कि राष्ट्रपति इस बिल को नामंजूर कर दें ।                


सीएम ने किया सूचना परिसर का उद्घाटन

बृजेश केसरवानी


लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनसंपर्क की अति आधुनिक सुविधा से लैस पंडित दीनदयाल उपाध्याय सूचना परिसर का उद्घाटन किया। आज से सूचना निदेशालय के सभी कार्य इसी नई बिल्डिंग से होंगे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री के साथ डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या और डा. दिनेश शर्मा के अलावा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, जलशक्ति मंत्री महेन्द्र सिंह, मुख्यसचिव आर के तिवारी, सूचना निदेशक शिशिर समेत कई गणमान्य लोग उपस्थित रहे। इस दौरान मुख्यमंत्री योगी ने सूचना विभाग की पुस्तक का भी विमोचन किया गया।


भाजपा-जाप समर्थकों में हिंसक झड़प

पटना। कृषि सुधार विधेयक के विरोध में प्रदर्शन कर रही जन अधिकार पार्टी (जाप-लोकतांत्रिक) के कार्यकर्ताओं की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के समर्थकों के साथ हिंसक झड़प हो गई, जिसमें कई लोग घायल हुए हैं। जाप के अध्यक्ष और पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव के नेतृत्व में पार्टी के कार्यकर्ता नए कृषि सुधार विधेयक के विरोध में डाक बंगला चौराहे की ओर बढ़ रहे थे और इसी दौरान जाप के कुछ उत्साही कार्यकर्ता भाजपा कार्यालय के समक्ष पहुंच गए और उकसाने वाली हरकत करने लगे।


इस पर भाजपा कार्यालय में मौजूद पार्टी के कार्यकर्ता और समर्थक उग्र हो गए तथा लाठी डंडे से जाप कार्यकर्ताओं पर हमला कर दिया। शुरुआत में जाप के कार्यकर्ताओं ने भी झंडे का डंडा निकाल कर भाजपा कार्यकर्ताओं का मुकाबला किया लेकिन बाद में भाजपा कार्यालय से पार्टी के कई और कार्यकर्ता जब लाठी डंडे के साथ बाहर आ गए तब जाप के कार्यकर्ता भागने लगे।           


किसानों ने हाईवे जाम कर किया प्रदर्शन

आदर्श श्रीवास्तव


लखीमपुर खीरी। मोदी सरकार द्वारा पारित कृषि विधेयकों के खिलाफ जिले के किसान भी लामबंद हो गए हैं। आज आक्रोशित किसानों ने सैकड़ों की संख्या में सड़क जाम कर सरकार विरोधी नारे लगाए। कृषि विधेयकों के विरोध में सपाइयों के साथ सड़क पर उतरे किसानों ने पलिया भीरा स्टेट हाईवे भी जाम कर दिया।


किसानों को रोकने के लिए कई थानों का फोर्स भीरा भेजा गया। उधर, समाजवादी पार्टी ने भी किसान आंदोलन को समर्थन दिया है। किसानों के साथ सपा के कार्यकर्ता भी इस प्रदर्शन में शामिल हो गए हैं।             


पेट की गड़गड़ाहट के संकेत को समझें

आज के समय में हर तीसरा व्यक्ति पेट में गड़बड़ी, गैस, कब्ज जैसी समस्याओं से परेशान है। ऐसे में पेट के खराब होने या बेवजह गुड़गुड़ी की आवाज आना भी आम है, जो सही समय पर भोजन न करने की वजह से होती है। इसके कारण खाली पेट में गैस बनने भारीपन महसूस होने लगता है। मगर, लंबे समय से यह परेशानी बनी हुई है तो उसे इग्नोर ना करें क्योंकि यह किसी बड़ी बीमारी संकेत भी हो सकता है। देता है आंत के कैंसर का संकेत।
इस परेशानी पर ध्यान न देने से गंभीर समस्या भी हो सकती है। बहुत बार दवा का सेवन करने पर पेट में गुड़गुड़ी की आवाजें आती रहती है। ऐसे में डॉक्टरों द्वारा अल्ट्रासाउंड और एक्सरे करवाने को कहा जाता है, क्योंकि इसके पीछे का कारण आंत का कैंसर भी हो सकता है। इसतरह किसी भी तरह की समस्या होने पर उसे अनदेखा करने की जगह तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। ताकि समय रहते बीमारी का पता कर इलाज किया जा सके।


इसके पीछे अन्य कारण


खासतौर पर लोग भोजन को जल्दी से और अच्छे से चबाकर नही खाते हैं। इससे पेट में गैस भर जाने की परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसी वजह से जब भोजन आहार नली से नीचे को उतरता है तो साथ में अंदर हवा भी प्रवेश करती है। इसके कारण पेट से आवाजें आने लगती है। भोजन को पचाने की प्रक्रिया के समय जब एंजाइम्स से खाना टूटता है तो पेट में गैस बनने लगती है, जो पेट में आवाजें निकालने की वजह बनती है। कई घंटों तक बिना कुछ खाए यानी भूखे रहने से भी पेट में गैस होने की शिकायत होती है। इससे पाचन तंत्र कमजोर होने के साथ अमाशय भी सिकुड़ने लगता है। इसके कारण पेट से गुड़गुड़ की आवाजें आने लगती है। यूं करें बचाव
ऐसे में एक्सर्ट्स के अनुसार दो समय के खाने के बीच ज्यादा देर का अंतराल नहीं डालना चाहिए। इसके अलावा पेट से गुड़गुड़ी की आवाज आने पर तुरंत भोजन का सेवन कर लेना चाहिए। अधिक समय तक भोजन न करने से पाचन तंत्र कमजोर होने लगता है। ऐसे में खाने को पचाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। गैस की परेशानी होने पर यह पेट की दीवारों से टकराती है। इसके कारण पेट से आवाजें आने लगती है। साथ ही पाचन तंत्र कमजोर होने लगता है।


इन चीजों का रखें ध्यान


खाने में फाइबर और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर चीजों का सेवन करें। इसके साथ अदरक को अपनी डेली रूटीन में शामिल करें। ज्यादा देर भूखे रहने से बचें।


भूख लगने पर तुरंत और चबा- चबा कर ही भोजन करें। चाय, कॉफी आदि का सेवन नामात्र ही करें। गोभी, ब्रोकली, बीन्स आदि चीजों के सेवन से गैस की परेशानी ज्यादा होती है। ऐसे में इनका सेवन करने से बचें। रोजाना 8-10 गिलास पानी का सेवन करें। सही व भरपूर मात्रा में नींद लें। सुबह व शाम के समय सैर व योगा करें। ज्यादा तला- भुना व मसालेदार भोजन खाने से परहेज रखें।           


'लखनऊ-दिल्ली' हाईवे पर लगाया जाम

शाहजहांपुर। शुक्रवार को राष्ट्रव्यापी आंदोलन के तहत कृषि विधेयकों का विरोध कर रही भारतीय किसान यूनियन ने लखनऊ-दिल्ली हाईवे पर जाम लगा दिया। प्रशासन ने पहले ही धरनास्थल के पहले से ट्रैफिक डायवर्ट कर रखा था। किसी भी वाहन को शहर के अंदर से नहीं आने दिया जा रहा है।


कृषि विधेयकों का विरोध कर रही भारतीय किसान यूनियन टिकैत गुट ने शुक्रवार को एनएच-24 जाम कर धरना-प्रदर्शन का आह्वान किया था। शुक्रवार सुबह से ही जिले के विभिन्न स्थानों से यूनियन के कार्यकर्ता हरदोई चौराहे से आगे टोल प्लाजा के पास चांदापुर चौराहे पर पहुंचने लगे थे। मध्याह्न 12 बजे काफी संख्या में लाठी-डंडे लेकर जुटे किसानों ने हाईवे के दोनों ओर ट्रैक्टर ट्रालियां खड़ी कर प्रदर्शन करने लगे। इस दौरान कई थानों का फोर्स मौके पर रहा और स्थिति पर नजर बनाए रखी। पुलिस ने गुरुवार को ही ट्रैफिक डायवर्जन की व्यवस्था बना ली थी।                       


दो आतंकी गिरफ्तार, गोला-बारूद बरामद

अनंतनाग। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले में श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुरक्षा बलों ने दो संदिग्ध आतंकवादियों को गिरफ्तार कर उनके पास से भारी मात्रा में हथियार, गोला-बारूद और नकदी बरामद की है। आधिकारिक सूत्रों ने शुक्रवार को बताया कि राज्य पुलिस के विशेष अभियान समूह, 9 राष्ट्रीय राइफल्स और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के सैनिकों ने गुरुवार रात काजीगुंड में राजमार्ग पर एक संयुक्त नाका स्थापित किया था। इसी दौरान सुरक्षा बलों ने एक कार को रोक कर दो संदिग्ध आतंकवादियों को दो स्वचालित राइफल, एक पिस्तौल, आठ मैगजीन, 400 से अधिक गोलियाें और ग्रेनेड सहित बड़ी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद तथा नकदी के साथ गिरफ्तार किया।


सूत्रों ने बताया कि यह अब तक पता नहीं चल सका है कि हथियार और गोला बारूद की यह खेप तस्करी के लिए जम्मू से लायी गयी थी या किसी अन्य जगह से। कार को भी जब्त कर लिया गया है और इस संबंंध में मामला दर्ज कर गिरफ्तार आतंकवादियों से पूछताछ शुरू कर दी गयी है।              


62 करोड़ किसानों के साथ खड़ा होना चाहिए

नई दिल्ली। कांग्रेस ने लोगों से शुक्रवार को किसानों के आंदोलन में शामिल होने और कृषि विधेयकों का विरोध करने की अपील की, जिसे हाल ही में संसद ने पारित किया है। कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा, “राष्ट्र को 62 करोड़ किसानों के साथ खड़ा होना चाहिए जो इस कठोर कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।” उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने अपने करीबी पूंजीपतियों की मदद के लिए ऐसा किया है, और “उन्हें गरीबों की परवाह नहीं है।”


कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर कहा, “किसानों से एमएसपी छीन ली जाएगी। उन्हें कांट्रेक्ट फार्मिंग के जरिए खरबपतियों का गुलाम बनने पर मजबूर किया जाएगा। न दाम मिलेगा, न सम्मान। किसान अपने ही खेत पर मजदूर बन जाएगा। भाजपा का कृषि बिल ईस्ट इंडिया कम्पनी राज की याद दिलाता है। हम ये अन्याय नहीं होने देंगे।” दलगत राजनीति से परे, पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा दिन भर का विरोध प्रदर्शन शुक्रवार सुबह शुरू हो गया। किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए दोनों राज्यों में भारी पुलिस बल तैनात किया गया है। यहां तक कि दोनों राज्यों के अधिकांश प्रमुख शहरों के दुकानदारों ने किसानों के साथ एकजुटता व्यक्त करते हुए अपनी दुकानें बंद कर दीं। एकजुटता के इस तरह के पहले विरोध प्रदर्शन में, पंजाब के 31 किसान संगठनों ने संयुक्त विरोध की घोषणा की।       


130 करोड़ भारतीयों का जीवन बेहतर हो रहा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर भाजपा कार्यकर्ताओं को उनके बताए मार्ग पर चलने की अपील की। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने जो हमें मार्ग दिखाया है, उस रास्ते पर हमें पूरे समर्पित भाव से आगे बढ़ना होगा।


प्रधानमंत्री मोदी ने मौजूदा समय संचालित अनेक जनकल्याणकारी योजनाओं के पीछे दीनदयाल उपाध्याय के विजन और आशीर्वाद को श्रेय दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 21वीं सदी के भारत को विश्व पटल पर नई ऊंचाई देने के लिए, 130 करोड़ से अधिक भारतीयों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए, आज जो कुछ भी हो रहा है, उसमें दीन दयाल जी जैसे महान व्यक्तित्वों का बहुत बड़ा आशीर्वाद है। प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से संबोधन में कहा, ये दीनदयाल उपाध्याय ही थे, जिन्होंने भारत की राष्ट्रनीति, अर्थनीति और समाजनीति, इन तीनों को भारत के अथाह सामथ्र्य के हिसाब से तय करने की बात मुखरता से कही थी, लिखी थी।             


पत्नी को मार, सास-साली की हत्या की

सम्राट सिंह राठौर


पानीपत। हरियाणा के पानीपत में दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है यहां समालखा खंड में पति ने अवैध संबंधों के शक के चलते पहले अपनी पत्नी की हत्या की। फिर साक्ष्य को छिपाने के लिए आरोपी ने अपनी पत्नी के शव को जलाया और चेहरा को बुरी तरह बिगाड़ दिया। उसके बाद आरोपी ने एक के बाद एक अपनी सास और 18 साल की अपनी साली को तेजधार हथियारों से हमला कर मौत के घाट उतार दिया। इतना ही नहीं, हत्या के बाद सास और साली के साथ शारीरिक संबंध भी बनाएं। आरोपी ने अपनी सास की भी पहचान छुपाने के लिए उसको जलाकर बुड़शाम गांव की नहर के पास फेंक दिया था और साली को गंदे नाले में फेंक दिया था।             


बेकाबू तेज रफ्तार बस, 3 की मौत 3 घायल

 बेकाबू क्लस्टर बस की चपेट में आए राहगीर, 3 की मौत, 3 गंभीर


उत्तर-पूर्वी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में गुरुवार की रात दर्दनाक हादसा हुआ। बेकाबू हुई क्लस्टर बस की चपेट में आकर कई राहगीर घायल हो गए। इस हादसे में एक 12 साल के किशोर समेत तीन लोगों की मौत हो गई है। यह हादसा दिल्ली के नंद नगरी इलाके में रात करीब 9.30 बजे हुआ। बस चालक को आसपास मौजूद लोगों ने पकड़कर पुलिस को सौंप दिया है।


जानकारी के मुताबिक क्लस्टर बस मंडोली फ्लाईओवर की तरफ से भोपुरा की तरफ जा रही थी। जब बस फ्लाईओवर से उतर रही थी, चालक अपना नियंत्रण खो बैठा। बेकाबू बस सड़क किनारे सर्विस रोड की ओर तेज रफ्तार से आगे बढ़ी. वहां पर कुछ रेहड़ी वालों के साथ ही राहगीर भी थे। सड़क के किनारे खड़े कई लोग बस की चपेट में आकर घायल हो गए।


हादसे के बाद चालक ने बस को बैक किया और वहां से भागने की कोशिश की। इस कोशिश में बस ने सर्विस रोड पर खड़ी एक टाटा 407 को पीछे से जोरदार टक्कर मार दी। बस ने टक्कर इतनी जोर से मारी कि 407 सड़क के किनारे दूसरी तरफ चली गई। इसके बाद लोगों को घायल हालत में देखकर जिनमें बच्चे भी थे, आसपास मौजूद लोग गुस्से में आ गए और बस पर पथराव शुरू कर दिया। लोगों ने बस चालक को मौके से ही पकड़ लिया तभी मौके पर दिल्ली पुलिस की टीम भी पहुंच गई। लोगों ने बस चालक को दिल्ली पुलिस के हवाले कर दिया। भीड़ को संभालने में दिल्ली पुलिस को भी खासी मशक्कत करनी पड़ी। पुलिस ने घायलों को तत्काल उपचार के लिए नजदीकी अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने एक किशोर समेत तीन को मृत घोषित कर दिया।


हादसे में जान गंवाने वाले 12 साल के किशोर का नाम करण बताया जा रहा है। करण के साथ ही 22 साल के रवींद्र और 40 साल के एक अन्य शख्स की भी मौत हो गई। तीसरे मृतक की शिनाख्त अभी नहीं हो सकी है। हादसे में तीन अन्य गंभीर रूप से घायल भी हुए हैं। घायलों का उपचार चल रहा है। घायलों में कंचन, सुजीत और सुधीर की हालत गंभीर है। हर्ष विहार थाने की पुलिस ने इस हादसे को लेकर एफआईआर दर्ज कर ली है। चश्मदीदों का कहना है कि बस की रफ्तार बेहद तेज थी और सड़क के किनारे अवैध तरीके से कई सारे ऑटो खड़े थे। जिसकी वजह से बस ड्राइवर आगे की तरफ बस ले जाने की बजाय सर्विस रोड की तरफ मुड़ गया और लोग बस की चपेट में आ गए।


 साजिद खान 


सावधानः वायरस के असामान्य लक्षण

पालूराम


नई दिल्ली। बढ़ते मामलों के साथ-साथ कोरोना वायरस के नए-नए लक्षण भी सामने आ रहे हैं। कोरोना से संक्रमित होने वाले हर व्यक्ति का अनुभव अलग-अलग है। वायरस के शुरुआती दिनों में माना जा रहा था कि ये सांस की बीमारी वालों को ज्यादा शिकार बना रहा है, लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं है। ये शरीर के कई अंगों को निशाना बनाता है।


बुखार, कफ या सांस लेने में दिक्कत के अलावा और भी कई लक्षण हैं, जिनके बारे में जागरुक होने की जरूरत है। बिना लक्षण वाले मरीजों को भी इन पर गौर करने की जरूरत है। ब्रिटेन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (National Health Service) द्वारा एक नया दिशा-निर्देश जारी किया गया है। इसमें संक्रमित लोगों के 4 असामान्य लक्षणों के बारे में बताया गया है। आइए जानते हैं इनके बारे में।


कोरोना वायरस के लक्षण दिखाई देने में 2 से 14 दिनों का वक्त लगता है। एनएचएस की नई ए़डवाइजरी के मुताबिक ये असामान्य लक्षण एक दिन तक रह सकते हैं, बार-बार हो सकते हैं या फिर संक्रमण से ठीक होने के बाद भी दिखाई दे सकते हैं। इन लक्षणों को नजरअंदाज बिल्कुल ना करें।


आंखों की समस्या- ए़डवाइजरी में आंखों में खुजली, लाल होना या सूजन आना जैसे नए लक्षण बताए गए हैं। ये लक्षण बहुत कम देखे जा रहे हैं और लोग इन पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। कुछ मामलों में आंखों के आसपास की नसें भी सूज जाती हैं या आंखों में बहुत ज्यादा पानी आ जाता है। हालांकि ये लक्षण बहुत असामान्य हैं लेकिन एक्सपर्ट्स का कहना है कि गंभीर संक्रमण के मामलों में ये लक्षण देखने को मिलते हैं।


बेसुध और दुविधा की स्थिति- COVID-19 का प्रभाव  मनोवैज्ञानिक रूप से भी पड़ रहा है, जिसका सीधा असर दिमाग पर हो रहा है। हालांकि ये लक्षण ठीक हुए मरीजों में ही देखने को मिले हैं। एनएचएस का कहना है कि सिरदर्द और थकान की समस्या के साथ ही बेचैनी और दुविधा जैसे लक्षण महसूस होते हैं। ये लक्षण भी गंभीर रूप से बीमार मरीजों में ही देखे गए हैं।


लगातार खांसी आना- हालांकि सूखी खांसी कोरोना वायरस के प्रमुख लक्षणों में से एक है लेकिन डॉक्टरों का कहना है कि लगातार खांसी आना वायरस की शुरुआत का एक नया संकेत हो सकता है। यूके के एक सर्वे में पाया गया है कि कोरोना वायरस के सारे मरीजों ने करीब एक से चार घंटे तक लगातार खांसी आने की शिकायत की थी।


स्किन में बदलाव आना- कोरोना वायरस के कई मरीजों की त्वचा में सूजन और चकते भी पड़ते हैं। हालांकि नई एडवाइजरी में त्वचा के रंग में बदलाव जैसी बात भी कही गई है। इसमें बताया गया है कि ये लक्षण ज्यादातर युवाओं में देखे गए हैं, जिन्हें पहले से कोई शिकायत नहीं थी। कुछ मामलों में पैरों में घाव जैसे लक्षण भी दिखे हैं।


क्या करना चाहिए- आपको इस समय छोटे-छोटे लक्षणों पर भी गौर करना चाहिए। अगर आपको कोई भी असामान्य लक्षण नजर आता है तो डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें। डॉक्टर की सलाह पर टेस्ट कराएं। अगर आपमें कोरोना के शुरुआती लक्षण हैं तो इसका इलाज घर पर क्वारनटीन होकर भी किया जा सकता है। हाथों को लगातार साफ करें और अपनी इम्युनिटी बढ़ाने की कोशिश करें। डॉक्टर की सलाह के बिना कोई दवा ना लें।


यूपीः 'बॉडी वार्न कैमरे' पहनकर करेंगे सुरक्षा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जेलकर्मी भी जल्द बॉडी वार्न कैमरों से लैस होंगे। जेलकर्मियों के बॉडी वार्न कैमरे सुरक्षा के अलावा खास मकसद के लिए होंगे। इस कैमरे में बन्दियों की मनोस्थिति, अवसाद या जेल में होने वाले रचनात्मक कार्य भी कैद होंगे। इसमें विजुअल के साथ आवाज भी होगी।


राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उप्र समेत राजस्थान, तेलंगाना और पंजाब की जेलों में पायलट प्रोजेक्ट के तहत बडी वार्न कैमरा (बीडब्लूसी) प्रयोग किए जाने की मंजूरी दे दी है। केंद्र सरकार यूपी को इसके लिए 80 रुपये लाख देगी। डीजी जेल आनन्द कुमार ने बताया कि पहले चरण में करीब 20 संवेदनशील जेलों में यह प्रोजेक्ट शुरू करने की योजना है। उसके बाद दूसरे चरण में बची जेलो में इसे शुरू किया जाएगा। इनकी बैटरी का बैकअप 5 घंटे का होगा। इसके संचालन के लिए बंदी रक्षकों और अधिकारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। कैमरे के संचालन, मॉनिटरिंग, रिकडिर्ंग, स्टोरेज आदि के लिए एक कंट्रोल रूम जेल में होगा।       


कर्नाटक में 'कांग्रेस विधायक' राव की मौत

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का संक्रमण रुकने का नाम नहीं ले रहा। देशभर में अबतक 57 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हुए हैं। वहीं इस संक्रामक रोग से अभीतक 91 हजार से ज्यादा की मौत भी हो चुकी है। कोरोना का संक्रमण आम लोगों के साथ ही कई राजनेताओं में देखने को मिला है। बीते बृहस्पतिवार को उन्होंने अस्पताल में अपनी अंतिम सांस ली। उन्हें कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद 1 सितंबर को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। कर्नाटक में बीदर जिले की बसावाकल्याण सीट से 65 वर्षीय कांग्रेस विधायक बी नारायण राव के कई अंगों ने इलाज के दौरान काम करना बंद कर दिया था। जिसकी वजह से उनकी हालत काफी नाजुक हो गई थी।


देश में फिर बढ़े कोरोना के सक्रिय मामले

नई दिल्ली। देश में लगातार छह दिन तक कोरोना महामारी को मात देने वालों की संख्या संक्रमण के नये मामलों से अधिक रहने के बाद पिछले 24 घंटों के दौरान इनमें कमी नजर आयी। इस दौरान जहां 81,177 लोग कोरोना मुक्त हुए, वहीं उससे करीब पांच हजार अधिक 86,052 मामले सामने आये, जिससे सक्रिय मामलों में 3,734 की वृद्धि हुयी।


केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 86,052 नये मामले सामने आये हैं, जिससे संक्रमितों की कुल संख्या 58,18,571 पर पहुंच गयी है। इसी अवधि में 81,177 मरीज स्वस्थ हुए हैं। इसके साथ ही कोरोना मुक्त होने वालों की संख्या अब 47,56,165 हो गयी है। संक्रमण के नये मामलों की तुलना में स्वस्थ होने वालों की संख्या अधिक होने से पिछले 24 घंटों में सक्रिय मामलों की संख्या 3,734 बढ़कर 9,70,116 हो गयी है।               


दिल्लीः 670 बसों के परिचालन को दी मंजूरी

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने पर्यावरण की रक्षा के लिए देश में 670 इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन को मंजूरी दी है। ये बसें महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा और चंडीगढ़ में चलायी जाएंगी। पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शुक्रवार को इस बात की घोषणा की। उन्होंने बताया कि 450 इलेक्ट्रिक बसें पहले से ही देश में चल रही हैं और अब 670 इलेक्ट्रिक बसें इन राज्यों में चलेगा। उन्होंने बताया कि इलेक्ट्रिक बस से न केवल पर्यावरण की रक्षा होगी बल्कि यह सस्ती भी हैं क्योंकि एक किलोमीटर चलने का इनका खर्च एक रुपये 20 पैसे है। ये बसें फेम इंडिया योजना के दूसरे चरण में चलाई जा रही हैं। उन्होंने यह भी बताया कि मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, केरल और गुजरात आदि में 241 चार्जिंग स्टेशन भी लगाए जा रहे हैं। पर्यावरण मंत्री ने बताया कि गुजरात में 250, महाराष्ट्र में 250, गोवा में 100 और चंडीगढ़ में 80 इलेक्ट्रिक बसें चलायी जा रही हैं।             


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

 सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


यूनिवर्सल एक्सप्रेस   (हिंदी-दैनिक)











 सितंबर 26, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-43 (साल-02)
2. शनिवार, सितंबर 26, 2020
3. शक-1943, अश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि- नवमी/दसवीं, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 60:04, सूर्यास्त 06:25।


5. न्‍यूनतम तापमान 28+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.। आद्रता बनी रहेंगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275                                


(सर्वाधिकार सुरक्षित)              











सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...