मंगलवार, 8 अक्तूबर 2019

सितारों ने दी विजयदशमी की शुभकामना

दशहरा 2019- अमिताभ बच्चन, सारा अली खान, अक्षय कुमार और अन्य सितारों ने दीं शुभकामनाएं


मुबंई। आज पूरे देश में दशहरे के त्योहार बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है। पीएम मोदी से लेकर खेल जगह व बॉलीवुड सितारों ने अपने-अपने अंदाज में देशवासियों को दशहरे की शुभकामनाएं दी है। इस कड़ी में बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन, खिलाड़ी अक्षय कुमार, अनिल कपूर, अनुष्का शर्मा, सारा अली खान, अर्जुन कपूर, सोनाली बेंद्रे, तापसी पन्नू, करण जौहर, जूही चावला, निमरत कौर, तमन्नाह भाटिया और काजल अग्रवाल जैसी बॉलीवुड हस्तियों ने सोशल मीडिया पर शुभकामनाएं दी हैं ।


बिग बी ने टि्वटर पर एक कोलाज साझा किया है। जिसमें उनकी एक तस्वीर भी थी और उन्होंने लिखा- "दशहरा व विजय दशमी की बधाई ,सुख शांति सम्मृद्धि की दुहाई ,  
स्नेह आदर। " जबकि अक्षय कुमार ने ट्वीट किया कि "सभी को खुश दशहरा। आशा है कि इस त्योहारी सीजन में बहुत सारी समृद्धि और खुशी आए।


सारा अली खान ने अपनी, अपनी मां अमृता सिंह और उनके भाई इब्राहिम अली खान की एक तस्वीर साझा की और लिखा "सभी को दशहरे की शुभकामनाएं। आप के अंदर और आपके आस-पास की बुराई का रावण के पुतलों की तरह विनाश हो।"अनुष्का शर्मा ने अपनी इच्छा को सरल और मधुर रखा और लिखा- "हैप्पी दशहरा। चलो विजय और अच्छाई की भावना का जश्न मनाएं! यह शुभ दिन आपके और आपके परिवार के लिए खुशी और समृद्धि लाए।


अर्जुन कपूर ने अपने प्रशंसकों के लिए "समृद्धि और खुशी से भरा वर्ष" की कामना की और ट्वीट किया- "इस दशहरे, आइए हम अपने भीतर की बुराई को नष्ट करें और एक उज्जवल वर्ष की आशा करें। सभी को समृद्धि और खुशियों से भरा वर्ष की शुभकामनाएं। शुभ दशहरा!"


एके-207, एक मिनट में 600 गोलियां

अमेठी। रक्षा उद्योग के क्षेत्र में तेजी से उभरते यूपी के अमेठी जिले में जल्द ही दुनिया की सबसे घातक राइफलों में शुमार एके-203 का निर्माण शुरू हो जाएगा। 'मेक इन इंडिया' अभियान के तहत अमेठी राइफल फैक्ट्री में 6.7 लाख क्लाशनिकोव राइफलों का निर्माण किया जाएगा। सेना तकनीकी शर्तों को मंजूरी देने जा रही है और अगले महीने तक व्यावसायिक बोली दाखिल कर दी जाएगी। इसके बाद अमेठी फैक्ट्री में राइफलों के निर्माण का रास्ता साफ हो जाएगा। बताया जा रहा है कि इंडो-रसियन राइफल प्राइवेट लिमिटेड जॉइंट वेंचर के साथ एके 203 राइफलों को बनाने का करार होगा। बता दें कि इस साल मार्च में अमेठी की फैक्ट्री का औपचारिक उद्घाटन हुआ था लेकिन अभी राइफल बनाने का ऑर्डर नहीं मिला है। बताया जा रहा है कि रूस इस अत्याधुनिक राइफल की पूरी तकनीक भारत को ट्रांसफर करेगा। प्रारंभिक चरण में सेना के लिए 6.7 लाख राइफलें बनाई जाएंगी। इसके बाद अद्र्धसैनिक बलों को भी यह राइफल दी जा सकती है। इससे राइफलों की कुल संख्या 7.5 लाख को पार कर सकती है। ऐसी योजना है कि एक लाख राइफलों के जरूरी उपकरणों को रूस से लाया जाएगा और इसके बाद इसे भारत में ही बनाया जाएगा। अमेठी फैक्ट्री में इस राइफल को बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। सेना के एक मेजर जनरल को इस पूरे प्रॉजेक्ट का हेड बनाया गया है। बताया जा रहा है कि एक एके-203 राइफल करीब 1000 डॉलर की पड़ेगी। रूस निर्मित एके-203 राइफल दुनिया की सबसे आधुनिक और घातक राइफलों में से एक है। इसके आने पर सेना को अक्सर जाम होने वाली इंसास राइफलों से मुक्ति मिल जाएगी। एके-203 बेहद हल्की और छोटी है जिससे इसे ले जाना आसान है। इसमें 7.62 एमएम की गोलियों का इस्तेमाल किया जाता है। यह राइफल एक मिनट में 600 गोलियां या एक सेकंड में 10 गोलियां दाग सकती है। इसे ऑटोमेटिक और सेमी ऑटोमेटिक दोनों ही मोड पर इस्तेमाल किया जा सकता है। इसकी मारक क्षमता 400 मीटर है। सुरक्षाबलों को दी जाने वाली इस राइफल को पूरी तरह से लोड किए जाने के बाद कुल वजन 4 किलोग्राम के आसपास होगा।


आस्था के नाम पर जनसामान्य को लूटा

आस्था के नाम पर की गयी लाखों की लूट
जुबां बंद करने अधिकारियों को बांटे पास
रायगढ़। कल रात डांडिया नाईट के नाम पर  टी. वी. कलाकार को बुलाकर शहर के थ्री स्टार होटल ट्रिनीटी ग्रेड ने लाखो की लूट खसोट की 500 रुपये के प्रवेश शुल्क के साथ खाने पीने का समान प्रिंट रेट से भी ऊंची दरों पर बेचें गयें। 25 रुपये में मिलने वाले कोल्ड ड्रींक के 40 से 45 रुपये वसूले गये। इसी तरह 40 से 50 रुपये की  कुकीज को  140 से 150 रुपये में बेचा गया खाने पीने के सभी समानों के दुगने से तीगुने दाम वसूलने के अरोप लगाये जा रहें हैं। जिसके लिये बकायदा आयकर, आबकारी व प्रशासनिक अधिकारियों को मुफ्त पास बांटे गये। ताकी इस बंदरलूट पर उनकी जुंबान को बंद रखा जा सकें  बडे़ अधिकारियों की उपस्थिती में की गयी इस तरह मनोरंजन के नाम पर लोगों से लाखो की सार्वजनिक लूट का अधिकार किसी को भी नहीं दिया जा सकता। लेकिन कल रात सारे नियम कायदों को ताक पर रख कर सरकार व प्रशासन की नाक के नीचे खुले आम लोगों की जेबें काटी गयी और पूरा प्रशासन मूक दर्शक बना इस लूट के खेल को देखता रहा उसने होटल प्रबंधन पर कोई कार्यवाही करने की बजायें टी.वी.कलाकार के साथ ठुमके लागाने को ज्यादा तबज्जो दी।ऐसा पहली बार नहीं हुआ। इसके पहले भी हर साल इस प्रकार के आयोजन होते रहें हैं। जिसके लिये सुनियोजित तरिकें से योजना बनाकर लूट के खेल को अंजाम दिया जाता हैं। बकायदा पहले फ्री पास देकर लोगों का मुंह बदं कियें जातें हैं ताकी 'लूट के इस खेल' को लेकर 'सबकी' बोलती बंद रहें। जिसके लिये लोगों को विश्वास दिलाया गया। पूरा शहर इस अयोजन का लुफ्त उठा सकेगाा। लेकिन प्रवेश पर 500 रुपये का शुल्क लगाये जाने से एक बडे़ तबकें की भावनायें आहत हुयी और वह  कार्यक्रम में शामिल होनें से महरुम हो गयेंं। खैर यह तो जगजाहिर हैं कि इस प्रकार के आयोजनों का ऐंजेडा पैसा कमाना ही होता हैं। करोड़ो का होटल कोई जनसेवा के लिये तो खोलेगा नहीं निश्चित रुप से इसके पीछे, उसका एक व्यवसायिक उदेश्य होगा और इस प्रकार के आयोजन भी इससे केसे अछूते  रह सकते हैं। 
---------------------------------------
ट्रिनीटी डायरेक्टर का वर्सन
----------------------------------------
होटल ट्रिनीटी ग्रेड के डायरेक्टर शरणदीप सलूजा का इस संबध में कहना हैं की यह सभी आरोप बेबुनियाद हैं। यदि कोई धार्मिक मूवी होगी तो उसकी भी टिकिट लगती हैं। फ्री में नहीं दिखायी जाती मिडीया को सकारात्मक सोच रखनी चाहिये। इस प्रकार टांग खिचाई होगी तो शहर में आयोजन बंद हो जायेगें। कल के आयोजन की लोगों ने प्रशंसा की हैं। वे यह नहीं बता सकते की आयोजन की अनुमति किससे ली गयी। लेकिन सभी प्रकार के परमिशन लिये गये हैं। खाने के रेट अन्य स्थानों से कम थे और क्वालिटी बेहतर थी। उन्होनें स्विकार किया की दो दिन के लिये प्रवेश शुल्क के रुप में  500 रुपये प्रति व्यक्ति लिये गयेे। प्रिंट रेट से अधिक रेट लेने पर वे कोई स्पष्ट जानकारी नहीं दे सकें।
 रमेश पत्रकार 


24 हजार गायत्री जाप, लघु साधना संपूर्ण

बागपत,बड़ौत। विजय दशमी के अवसर पर कल्याण भारती सेवा संस्थान के कार्यालय आजाद नगर बड़ौत पर संस्थान के प्रबन्ध निदेशक गोपी चन्द सैनी द्वारा, 24 हजार गायत्री जाप लघु साधना का पुर्ण आहुति यज्ञ का आयोजन कर साधना को पूर्ण किया गया। यज का आयोजन आचर्य श्री रामपाल जी के सानिध्य में सम्पूर्ण किया गया। 9 दिवसीय गायत्री जप साधना का अनुष्ठान गोपी चन्द सैनी द्वारा नवरात्रों में प्रारम्भ किया गया था। और कार्यक्रम में संस्थान की ओर से निशुल्क भजन कीर्तन के आयोजन हेतु श्री हरि संकीर्तन मण्डल बड़ौत का गठन मुख्य रूप से किया गया। जो इच्छुक परिजनों के आवास पर श्री हरि किर्तन के आयोजन हेतु तत्‍पर रहेगा। संस्थान की ओर से श्री हरि कीर्तन के निशुल्क आयोजन का मुख्य दायीत्व संस्थान की सदस्या श्रीमति नेमवती को दिया गया।


कार्यक्रम में शोमदत, श्री हरबीर सिंह, अनिल कुमार, गौरव कुमार, श्रीमति सुमित्रा, शकुंतला, सुनीता, चन्द्र प्रभा, प्रतीक्षा उपस्थित सभी गणमान्य व्यक्ति सहयोगी रहे।


पुतला दहन करने द्वारका पहुंचे पीएम

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के द्वारका में रावण दहन कार्यक्रम में पहुंच गए हैं। पीएम मोदी यहां पर 107 फीट रावण के पुतले का दहन करेंगे। प्रधानमंत्री के साथ दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी और पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश वर्मा मौजूद हैं।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार लालकिले की रामलीला से दूर दिल्ली के द्वारका सेक्टर 10 में होने वाली रामलीला में शामिल हो रहे हैं। पीएम मोदी के आने के चलते इलाके में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। पुलिस को 5 दिन पहले ही प्रधानमंत्री के इस कार्यक्रम की जानकारी दे दी गई थी।


एक पल नहीं जाएगी यूपी की बिजली ?

लखनऊ। इस बार त्यौहारों पर शहरों के साथ गांवों में भी पूरी बिजली मिलेगी। त्यौहारों के लिए यूपी पावर कारपोरेशन ने अतिरिक्त बिजली आपूर्ति के इंतजाम किए है। दशहरा से लेकर दीपावली तक गांवों में पर्याप्त बिजली देने के निर्देश जारी किए गए हैं। इसके लिए कॉरपोरेशन ने शेड्यूल जारी किया है। इस दौरान स्थानीय फाल्ट या ब्रेकडाउन अधिक न हों इसके लिए स्थानीय अधिकारियों को पहले से तैयारियों के लिए निर्देशित किया गया। गैंग की संख्या अधिक रखने और सभी जरूरी उपकरणों का इंतजाम पहले से करने के लिए कहा गया है।


पिछले दिनों बारिश के बाद बिजली की मांग काफी नीचे चली गई थी। लेकिन अब एक बार फिर डिमांड 15 से 16 हजार मेगावाट के बीच पहुंच गई है। यूपी के प्रमुख सचिव ऊर्जा आलोक कुमार ने बताया है कि पूरे प्रदेश में बिना रुकावट के बिजली आपूर्ति के निर्देश दिए गए हैं। सभी जनपदों के लिए दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं। उन्होंने बचाया कि अगर बिजली आपूर्ति में बाधा की कोई शिकायत आती है तो उसे तुरंत दूर करने का प्रयास किया जाएगा। ब्रेकडाउन भी जल्द से जल्द ठीक करने के लिए कहा गया है।


अजय को बनाया कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस को मजबूत करने की कसरत में जुटी प्रियंका गांधी वाड्रा ने लंबी कसरत के बाद नई कार्यकारिणी का गठन कर दिया है। कांग्रेस ने बड़ा फेरबदल करते हुए अजय कुमार लल्लू को उत्तर प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया है और राज बब्बर की छुट्टी कर दी गई है। अजय कुमार लल्लू मौजूदा वक्त में कुशीनगर जिले की तमकुहीराज विधानसभा सीट से विधायक हैं।
यूपी कांग्रेस की नई कार्यकारिणी में 4 उपाध्यक्ष, 12 महासचिव और 24 सचिव भी बनाए गए हैं। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी घोषित होने के साथ ही 18 वरिष्ठ नेताओं की एक सलाहकार समिति भी गठित की गई है, जिसकी अध्यक्षता खुद प्रियंका गांधी करेंगी। इसके अलावा एक 8 सदस्यों का स्ट्रेटिजी ग्रुप भी बनाया गया है, जिसमें तेज-तर्रार अनुभवशाली नेताओं को रखा गया है।
2019 के लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद से ही यूपी कांग्रेस में सर्जरी की ख़बरें आ रही थीं, प्रियंका गांधी ने मैराथन बैठकों के बाद नई टीम तैयार की और अब औपचारिक ऐलान किया गया है। नई कार्यकारिणी के सामने सबसे पहली चुनौती 11 विधानसभा सीटों पर हो रहे उपचुनाव में बेहतर प्रदर्शन करना है। उसके बाद संगठन की मजबूती और खुद को विपक्षियों में नंबर वन साबित करने की भी चुनौती होगी।
प्रियंका गांधी ने 2022 में कांग्रेस को उत्तर प्रदेश की सत्ता तक पहुंचाने का दावा किया है, लिहाजा नई टीम भी उसके आधार पर ही तैयार की गई है। अब सवाल इसी बात का है कि क्या अजय कुमार लल्लू प्रियंका गांधी की उम्मीदों पर खरे उतर पाएंगे? क्या यूपी कांग्रेस की नई टीम जनता के बीच पकड़ बना पाएगी? क्या यूपी कांग्रेस के नए पदाधिकारी हर जिले, हर विधानसभा में संगठन को मजबूत कर पाएंगे?


मोहन भागवत ने किया शस्त्र-पूजन

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के मुख्यालय नागपुर में विजयादशमी उत्सव मनाया जा रहा है. इस मौके पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने सुबह 7.40 पर शस्त्र पूजन किया. इससे पहले कार्यक्रम का प्रारंभ पथसंचलन सें हुआ. संघ के विजयादशमी  उत्सव में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, केंद्रीय मंत्री वीके सिंह और महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस शामिल हुए. इस वर्ष के कार्यक्रम में शिव नाडर, अध्यक्ष एवं संस्थापक HCL, मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लिया. थोड़ी देर में सरसंघचालक मोहन भागवत संबोधित करेंगे. 
RSS पर महापुरुषों के वचन
'RSS के सामाजिक कार्यों में मैं राष्ट्रहित देख रहा हूं. व्यक्तिगत चरित्र ध्येय के प्रति प्रतिबद्धता है, इस कार्य में आपको सफलता न मिलने का प्रश्न ही नहीं उठता'
'समाज को संगठित करने में संघ का बताया हुआ मार्ग सही है पर मैं राजनीति के क्षेत्र में बहुत आगे बढ़ चुका हूं. इस समय आपके साथ चलना संभव नहीं है. क्षमा करें.'
'लोग मुझे Royal Beggar कहकर बुलाते हैं. अगर आप चाहे तो, मैं संघ के लिए धन जुटाऊंगा.' मदन मोहन मालवीय
'मुझे आश्चर्य होता है यह देखकर कि यहां पर स्वयंसेवक किसी भी प्रकार के भेदभाव के बिना, किसी दूसरे की जाति जाने बगैर परस्पर भाईचारे से रह रहे हैं.' डॉ. भीमराव आंबेडकर
'आरएसएस के ऊपर दंगा और दहशतगर्दी का आरोप हैं, ये बिल्‍कुल बेबुनियाद है. परस्पर प्रेम, सौहार्द, संगठन ऐसे विचार, मुसलमानों को संघ से सीखना चाहिए.'डॉ. जाकिर हुसैन
"मैं संघ का समर्थक हूं. अनुशासन, देशभक्ति और समाज सेवा के लिए यह संगठन जाना जाता है."दलाई लामा
'मेरी पार्टी का संघ के साथ वैचारिक मतभेद हो सकता है लेकिन जब देश संकट में हो तो हम सबको एकजुट होकर काम करना चाहिए ' पंडित जवाहर लाल नेहरू
संघ के स्वयंसेवकों की देशभक्ति किसी प्रधानमंत्री से कम नहीं है ।


अगर जनसंघ फासीवादी है तो मैं भी फासीवादी हूं. जय प्रकाश नारायण 


संघ की स्थापना में कांग्रेस का रोल !
-संघ के संस्थापक डॉक्टर के बी हेडगेवार कांग्रेस के नेता बी एस मूंजे के शिष्य थे।
-बी एस मूंजे, बाल गंगाधर तिलक के समर्थक कांग्रेसी नेता थे।
-तिलक के निधन के बाद उनके समर्थक कांग्रेस में किनारे किए जाने लगे।
-महात्मा गांधी ने मुस्लिमों के ख़िलाफ़त आंदोलन के समर्थन का एलान किया।
-तब हिंदुओं को एकजुट करने के लिए डॉक्टर हेडगेवार ने RSS की स्थापना की।


RSS मुस्लिमों के लिए क्या कर रहा है ?  
मुस्लिमों को साथ जोड़ने के लिए संघ ने एक संगठन बनाया
साल 2002 में मुस्लिम राष्ट्रीय मंच का गठन हुआ।
संघ मुस्लिमों में आधुनिकता का प्रचार प्रसार चाहता है।
मदरसे का आधुनिकीकरण संघ के एजेंडे में ऊपर है।
संघ मुस्लिमों में धार्मिक कट्टरता का विरोध करता है।
RSS इस्लामिक आतंकवाद के खिलाफ मुस्लिमों को जागरुक करता है।
RSS ने ट्रिपल तलाक़ खत्म करने की वकालत की थी।


पूर्व मंत्री प्रोफेसर संपत सिंह ने छोड़ी कांग्रेश

राणा ओबराय
पूर्व मंत्री प्रोफेसर संपत सिंह ने छोड़ी कांग्रेस



हिसार। कांग्रेस के दिग्गज नेता और पूर्व में मंत्री रहे प्रोफेसर संपत सिंह ने आज आखिरकार कांग्रेस को अलविदा कह दिया है। प्रोफेसर संपत सिंह नलवा हलके से अपनी टिकट काटे जाने पर नाराज चल रहे थे और आज प्रेस वार्ता कर इस बारे में घोषणा की। संपत सिंह ने प्रेस वार्ता में कांग्रेस के नेताओं पर गंभीर आरोप भी लगाए। साथ ही खुलासा किया कि किस तरीके से टिकटों को बेचा गया या फिर आपस में बंदरबांट की गई।


कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में शामिल संपत सिंह ने प्रेस वार्ता कर प्रदेश में कांग्रेस के दिग्गज नेताओं पर गंभीर आरोप लगाए। संपत सिंह ने कहा कि कांग्रेस के कुछ गिने चुने नेताओं ने एक तरीके से पार्टी पर कब्जा कर लिया है और मात्र सात चेहरों ने 90 सीटों का आपस में बांटकर निर्णय लिया है। साथ ही संपत सिंह का पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा पर भी दर्द छलका और उन्होंने कहा कि हुड्डा साहब ने हिसार जिले की सात विधानसभा में से किसी भी सीट पर पैरवी नहीं की और उन्हें इसके चलते टिकट से मरहूम रहना पड़ा।


संपत सिंह ने कांग्रेस के बड़े नेता कुलदीप बिश्नोई पर भी निशाना साधा और कहा कि यह परिवार हमेशा से ही मुझ पर अत्याचार करता रहा है। संपत सिंह ने कहा कि 1993 में मुख्यमंत्री रहते हुए स्वर्गीय भजनलाल ने उन पर छापेमार कार्यवाही करवाई और साथ ही मुकदमे दर्ज करने का काम किया जिससे उन्हें सालों तक अदालतों के चक्कर काटने पड़े। संपत सिंह ने कुलदीप बिश्नोई पर वादाखिलाफी का आरोप लगाते हुए उन्हें झूठा भी करार दिया और कहा कि कुलदीप बिश्नोई ने स्वयं मुझे सामने बैठा कर कहा था कि मैं आपकी टिकट की जोरदार तरीके से पैरवी करूंगा, लेकिन कुलदीप बिश्नोई अपनी बातों से मुकरते हुए नज़र आए।


प्रोफेसर सिंह ने कहा कि कांग्रेस में सालों से काम करने वाले नेताओं और कार्यकर्ताओं को इस बार निराशा हाथ लगी है और एक तरीके से सांठगांठ कर बड़े और दिग्गज नेताओं की टिकटें काटने का काम किया है। संपत सिंह ने कहा कि कुलदीप बिश्नोई के चलते उनकी टिकट कटी है और मैं अब आदमपुर हलके में अपने हजारों कार्यकर्ताओं के साथ प्रचार करूंगा और कुलदीप बिश्नोई को हराने का काम किया जाएगा। साथ ही उन्होंने कहा कि नलवा और फतेहाबाद हल्के में भी कुलदीप बिश्नोई के चहेते उम्मीदवारों को हराने का काम किया जाएगा। नलवा हलके से कांग्रेस प्रत्याशी रणधीर पनिहार को लेकर उन्होंने कहा कि उनकी हार पहले से ही निश्चित थी लेकिन हम जमानत जब्त करवाने का काम करेंगे।


कल रोहतक में मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में प्रोफेसर संपत सिंह ने कहा कि यह गलत तरीके से प्रचार किया जा रहा है और उन्होंने सफाई देते हुए कहा कि जब मैं दिल्ली से वापस आ रहा था और मात्र कुछ समय टॉयलेट यूज़ करने के लिए रेस्ट हाउस में रुका था लेकिन मुझे नहीं पता था कि भारतीय जनता पार्टी का पहले से कोई कार्यक्रम पर है और उसमें मुख्यमंत्री जी आए हैं। संपत सिंह ने कहा कि औपचारिक तौर पर मेरी मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मुलाकात हुई थी लेकिन इस तरीके की चर्चाएं बिल्कुल गलत है कि मैं पार्टी ज्वाइन करने गया था और  शर्तों पर सहमति नहीं बनी।


जेजेपी की टिकट को लेकर उड़ी अफवाहों पर विराम लगाते हुए संपत सिंह ने कहा कि जेजेपी समेत कई पार्टियों के ऑफर उन्हें आए थे लेकिन परिवार से सलाह मशवरा कर विनम्रता पूर्वक उन्हें मना कर दिया गया था। उन्होंने साफ किया कि मैंने किसी भी तरीके से उनकी टिकट पर चुनाव लड़ने की हामी नहीं भरी थी। आगामी राजनैतिक निर्णय पर बोलते हुए प्रोफेसर संपत सिंह ने कहा कि वह अपने कार्यकर्ताओं से सलाह मशवरा कर रहे हैं और जल्द ही इस बारे में घोषणा कर दी जाएगी।


नेपाल चीन से करेगा खास समझौता

नेपाल करने वाला है चीन के साथ खास समझौता


काठमांडू। 06 जुलाई को तिब्बती धर्म गुरू और 14वें दलाई लामा तेनजिंग ग्यात्सो का 84वां जन्मदिन पूरी दुनिया में मनाया गया, लेकिन नेपाल ने वहां रह रहे तिब्बती निर्वासितों को उनका जन्मदिन नहीं मनाने का आदेश जारी कर दिया। नेपाल पर चीन का प्रभाव किस कदर बढ़ रहा है इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है।


नेपाल अपने नए दोस्त चीन को नाराज नहीं करना चाहता है, वह भी चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के पहले नेपाल दौरे से ठीक पहले। वहीं अब चीन ने नेपाल के साथ ऐसी संधि करने जा रहा है, जिसके बाद वहां तिब्बितयों का रहना मुश्किल हो जाएगा। नेपाल में तकरीबन 20 हजार निर्वासित तिब्बती शरणार्थी रहते हैं और लगातार चीन के खिलाफ काठमांडू में प्रदर्शन करते रहते हैं। वहीं अक्टूबर के मध्य में चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का पहला नेपाल दौरा है।


हालांकि इससे पहले जिनपिंग दो दिवसीय भारत की यात्रा पर रहेंगे, जहां केरल के मल्लापुरम में प्रधानमंत्री मोदी और जिनपिंग के बीच द्वपक्षीय संबंधों पर चर्चा होगी। जिसके बाद चीनी राष्ट्रपति नेपाल के लिए रवाना हो जाएंगे। किसी चीनी राष्ट्रपति की 23 साल बाद नेपाल की यात्रा होगी, इससे पहले 1996 में झियांग झेमिन ने नेपाल की यात्रा की थी। वहीं 2012 में चीनी प्रधानमंत्री वेन जियाबाओ नेपाल गए थे।


पाकिस्तान मे प्याज सौ रुपए पार

पाकिस्तान में प्याज का दाम 100 रुपये किलो तक पहुंचा


इस्लामाबाद। प्याज का दाम पाकिस्तान में लोगों की आंखों में आंसू ले आया है। इसकी कीमत यहां सौ रुपये किलो तक पहुंच गई है। पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि संबंधित विभाग और व्यापार मंत्रालय की गलत नीतियों के कारण पाकिस्तान में प्याज का दाम नब्बे से सौ रुपये किलो तक पहुंच गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि बारिश से बलोचिस्तान और सिंध में प्याज की फसलों को काफी नुकसान पहुंचने के बावजूद इनका निर्यात पहले की ही तरह जारी है। एक तरफ देसी प्याज बाहर भेजा जा रहा है जबकि स्थानीय मांग को पूरा करने के लिए अफगानिस्तान और ईरान का प्याज देश के बाजारों में बिक रहा था।


रिपोर्ट में कहा गया है कि प्याज के व्यापारियों का कहना है कि अब इन देशों से प्याज का आयात रोक दिया गया है जबकि देसी प्याज का निर्यात धड़ल्ले से जारी है। नतीजा यह हुआ है कि प्याज का दाम, जो पहले से ही अधिक चल रहा था, बीस रुपये प्रति किलो तक बढ़ गया और एक किलो प्याज की कीमत सौ रुपये तक जा पहुंची।


पुलिस-पब्लिक मे सामजस को प्राथमिकता

पुलिस पब्लिक के मधुर संबंध पुलिस को बेहतर परिणाम देने में सहायक एवं सार्थक:एस पी देहात नेपाल सिंह


याद रहेगा आलोक शर्मा का बेहतरीन कार्यकाल


तस्लीम बेनकाब
मुजफ्फरनगर। मुजफ्फरनगर जनपद को अपराध की दृष्टि से काफी संवेदनशील माना जाता है इस जिले को कभी अपराध की नगरी तो कभी अपराध की जननी कभी क्राइम कैपिटल भी कहा जाता है यहां के अपराध को मीडिया में भी कुछ ज्यादा तूल दिया जाता है तूल देने की विषय पर कई पुलिस अधिकारी अपनी सहमति भी जता चुके हैं तथा मुजफ्फरनगर में अपराध कोई नई चीज नहीं है बरसों से अपराध और पुलिस का खेल चलता रहा है लेकिन जनता के साथ मिलजुल कर काम हो तो पुलिस के लिए सोने पर सुहागा साबित होता है।जनपद मुजफ्फरनगर में पुलिस अधीक्षक देहात के पद पर नवीन तैनाती की गई है आलोक शर्मा के स्थान पर अब नेपाल सिंह को लाया गया है आलोक शर्मा अपनी बेहतर सेवा के चलते जिले में काफी लोकप्रिय रहे तथा व्यवहार कुशल भी माने जाते थे उनका कार्यकाल बेहतरीन रहा तथा आलोक शर्मा ने अपने व्यवहार से सभी लोगों के दिलो पर एक छाप छोड़ी, अब उनकी जगह नेपाल सिंह को लाया गया है जो पूर्व में अपनी सेवाएं दे चुके हैं जब शामली जनपद अलग नहीं हुआ था मुजफ्फरनगर में था शामली में सी ओ के पद पर रहकर अपनी सेवाएं प्रदान कर चुके हैं अब वह मुजफ्फरनगर में एस पी देहात के रूप में अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं नेपाल सिंह एक बहुत ही जुझारू और मेहनती अधिकारियों में शुमार किए जाते हैं उनका स्पष्ट कहना है कि बदमाशों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा तथा उन्हीं के अंदाज में पुलिस उन को करारा जवाब देगी पुलिस ऐसा कर भी रही है उन्होंने कहा कि जिले में एसएसपी अभिषेक यादव के नेतृत्व में पुलिस शानदार ढंग से काम कर रही है और निरंतर करती रहेगी उन्होंने कहा कि देहात क्षेत्र के सभी थानों का अवलोकन कर रहा हूं और सूचीबद्ध बदमाशों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाएगा घेरा घेरा कर दौड़ा दौड़ा कर उनको उनके अंजाम तक पहुंचाया जाएगा साथ ही उन्होंने बताया कि पुलिस के साथ जनता के संबंध जितने मधुर एवं प्रगाढ़ होंगे उसका परिणाम उतना ही सार्थक आएगा क्योंकि आज का दौर वह दौर है जहां पुलिस और पब्लिक को मिलकर एक साथ काम करना होता है और उसी के परिणाम स्वरूप बदमाशों का सफाया भी हो रहा है इसमें जनता का हर प्रकार का समर्थन पुलिस को प्राप्त है। वैसे एसपी देहात नेपाल सिंह व्यवहार कुशलता के धनी माने जाते हैं और सभी की समस्याओं को सुनते हैं और उनका निस्तारण करते हैं काम करने वाले अधिकारी प्रतीत होते हैं वहीं दूसरी और अपराध के लिए बदनाम इस जिले में कितना काम करेंगे और कैसे करेंगे यह तो कभी नहीं कहा जा सकता लेकिन आशा की जाती है कि वह एक बेहतर पुलिस अधिकारी साबित होगा।


दुष्कर्म:बच्चों की गलती अपराध न समझे

यूपी:दलित किशोरी से दुष्कर्म; थानेदार बोले- बच्चों से गलतियां हो जाती हैं, इसे अपराध न मानें


बलिया। मनियर थाना इलाके में दलित किशोरी के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पीड़िता अपनी मां के साथ थाने पहुंची तो थानाध्यक्ष ने केस दर्ज नहीं किया। आरोप है कि थानाध्यक्ष ने पीड़िता सेकहा- "बच्चों से छोटी-मोटी गलतियां हो जाती हैं। कानून की निगाह में ये जुर्म है, लेकिन इन्हें किसी अपराध के रूप में न देखा जाए। उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है।" एसपी ने मामले का संज्ञान लेकर केस दर्ज करवाया है। साथ ही बेतुका बयान देने वाले थानेदार को लाइन हाजिर कर दिया गया है।


मनियर थाना इलाके केनाबालिग लड़के ने एक किशोरी को लंबे समय तक शादी का झांसा देकरदुष्कर्म किया। बाद में लड़की ने उससे मिलना-जुलना बंद कर दिया तो लड़का नाराज हो गया। पांच दिन पहले किशोरी शौच के लिए खेत जा रही थी,तभी आरोपी ने मौका पाकर उसे पकड़ लिया और दुष्कर्म किया। पीड़िता रोते हुए घर पहुंची और मांको घटना की जानकारीदी। पिता दिल्ली में रहकर मजदूरी करता है।आरोप है किमां आरोपी के परिजनसे शिकायत करने घर गई तो उसके साथ बदसलूकी की गई।जातिसूचक शब्दों से अपमानित किया गया। इसके बादपीड़िता औरउसकी मां को थानेदार सुभाष चंद्र यादव ने 5 दिनों तक दौड़ाया।लेकिन केस दर्ज नहीं किया।


इंस्पेक्टर बोले- दोनों के बीच प्रेम संबंध थे:-इंस्पेक्टर यादव ने बताया किदोनों के बीच प्रेम प्रसंग था। दोनों नाबालिग हैं। इनसे छोटी-मोटी गलतियां होती हैं। इन्हें किसी अपराध के रूप में न देखा जाए। उन्होंने कोई अपराध ही नहीं किया है।एसपी देवेंद्र नाथ ने विवादित बयान देने पर मनियर थाने के इंस्पेक्टर सुभाष चंद यादव को थाने से हटाते हुए लाइन हाजिर कर दिया है। साथ ही एएसपी संजय कुमार को जांच सौंपी है।


भौतिकी में तीन को नोबेल पुरस्कार

जर्मन। फिजिक्स क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार का ऐलान कर दिया गया है। इस साल फिजिक्स के लिए नोबेल पुरस्कार तीन लोगों को दिया गया है। जेम्स पीबल्स को भौतिक ब्रह्माण्ड विज्ञान में सैद्धांतिक खोज के लिए और मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को संयुक्त रूप से एक्सोप्लैनेट की खोज के लिए दिया गया है।


दिल्ली में सिलेंडर फटा मां बेटे की मौत

नई दिल्ली। दिल्ली के करावल नगर इलाके में मंगलवार को सिलेंडर फटने से दो लोगों की मौत हो गई जबकि एक गंभीर रुप से घायल हो गया। हादसा उस समय हुआ जब एक छोटे एलपीजी सिलेंडर में गैस भरी जा रही थी। इस दौरान अचानक सिलेंडर में आग लग गई और सिलेंडर में ब्लास्ट हो गया। इस हादसे की चपेट में तीन लोग आ गए, जिसमें 2 महिलाओं की मौत हो गई जबकि 1 गंभीर रूप से घायल हो गया। मृतकों की पहचान रामश्री (62) और उसकी बेटी हेमलता (38) के रूप में हुई है। हादसे में घायल राजेश को जीटीबी अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। पुलिस के अनुसार हादसा करावल नगर के न्यू सभापुर स्थित धन-धन सतगुरु आश्रम में हुआ। यहां कुछ लोग बड़े सिलेंडर से छोटे एलपीजी सिलेंडर में गैस डाल रहे थे। इस दौरान अचानक रिसाव के बाद सिलेंडर में आग लग गई और वहां रखे 2 छोटे सिलेंडर फट गए। पास में ही मौजूद हेमलता राम श्री और राजेश इसकी चपेट में आ गए।
घटना के बाद इसकी सूचना पुलिस और दमकल विभाग को दी गई। इसके बाद पीसीआर की मदद से तीनों को जीटीबी अस्पताल ले जाया गया। यहां डॉक्टरों ने हेमलता और रामश्री मृत घोषित कर दिया गया। जबकि राजेश का अस्पताल में उपचार जारी है।दछ


महिला से छेड़छाड़ रेप की कोशिश

आकाशुं उपाध्याय


गाजियाबाद। मुरादगर थानाक्षेत्र के गांव निवासी महिला ने थाने में तहरीर देकर बताया कि अपने चार माह के बच्चे के साथ घर में अकेली थी, परिवार के लोग काम पर गये हुये थे। आरोप है कि महिला को घर में अकेली पाकर, पड़ोसी युवक घर में घुस आया, आरोपी ने महिला से छेड़छाड़ कर रेप की कोशिश की। विरोध कर महिला ने शोर मचा दिया, ग्रामीण और परिजनों को आता देख आरोपी मौके से फरार हो गये। कुछ समय बाद आरोपी अपने परिजनों के साथ आया और पीडि़ता के घर आकर मारपीट शुरू कर दी, इतना नहीं आरोपियों ने पथराव भी किया। महिलाओं की चीख पुकार सुनकर ग्रामीणों को आता देख आरोपी मौके से फरार हो गये। मारपीट पथराव में पीडि़त महिला, उसकी सास, तीन ननद और चार माह का बच्चा घायल हो गया। पुलिस का कहना है कि मामला नाली में कूडा डालने को लेकर मारपीट से जुड़ा है, शिकायत पर जांच की जा रही है।


दो शातिर बदमाश तमंचे सहित गिरफ्तार

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। मुरादनगर पुलिस ने दो शातिर बदमाशों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से दो तमंचे मारुति कार बरामद की है lथाना प्रभारी ओपी सिंह ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली कि किसी वारदात को अंजाम देने के इरादे से एक कार में कुछ बदमाश घूम रहे हैंl पुलिस ने ने चुंगी नंबर 3 पर श्मशान के पास बदमाशों की घेराबंदी कर धर दबोचाl थाना प्रभारी ने बताया कि पकड़े गए बदमाशों ने पूछताछ में अपना नाम फरमान पुत्र युसूफ निवासी ईदगाह कॉलोनी, नसीबुद्दीन पुत्र जुम्मा निवासी ईदगाह कॉलोनी मुरादनगर बताया है। तलाशी के दौरान उनके पास से दो तमंचे कारतूस व कार बरामद की गई है। थाना प्रभारी ने बताया कि पकड़े गए बदमाश काफी शातिर हैं। चोरी लूट आदि की घटनाओं को अंजाम देते थे ।पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।


महिला ने खुद को लगाई आग,मौत

मोहित श्रीवास्तव


गाजियाबाद। मोदीनगर थानाक्षेत्र में सीकरी कलां की निकट एक कैलाश बिहार क्लोनी की रहने वाली महिला ने आज खुद आग लगाकर की आत्महत्या। महिला की उम्र 60 वर्ष बताई जा रही हैं। परिजन निजी अस्पताल लेकर पहुंचे जहाँ डाक्टरों ने महिला को मर्तक घोषित कर दिया। इस घटना को देख क्लोनी वासियों में मचा हडंकप इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी गयी। पुलिस मौके पर पहुंची । मोदीनगर थाना प्रभारी संजीव शर्मा ने बताया की आस.पास व परिजनों का कहना हैं। किसी कारण महिला मानसिक रूप से परेशान चल रही थी। पुलिस ने महिला के शव को कब्जे लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद भी पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी।


दुर्गा विसर्जन के दौरान चार की मौत

देवास। खजुरिया कनका की तलैया में डूबने से 5 बच्चों की मौत हो गई है। दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन के दौरान ये दर्दनाक हादसा हुआ है। देवास। खजुरिया कनका की तलैया में डूबने से 5 बच्चों की मौत हो गई है। दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन के दौरान ये दर्दनाक हादसा हुआ है।


इस पूरे घटनाक्रम प्रशासन की बड़ी लापरवाही देखने को मिली है । भोपाल के खटलापुर हादसे के बाद भी प्रशासन ने विसर्जन स्थलों पर सुरक्षा के कोई इंतजान महीं किए हैं,जिसकी वजह से ये गंभीर हादसा हो गया।


परिवार के चार सदस्यों की लाश मिली

झालावाड़। जिले के सुनेल थाना क्षेत्र के ढाबलाखींची गांव में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। इस घटना में एक कमरे में एक ही परिवार के चार सदस्यों के शव मिले हैं। मृतकों में एक महिला और उसके तीन बच्चे शामिल हैं। महिला का पति रात से ही घर से लापता बताया जा रहा है। पुलिस इसे हत्या का मामला मानकर जांच में जुटी है. सुनेल थाना पुलिस के अनुसार इलाके के ढाबला खींची गांव मे एक घर में महिला व तीन बच्चों के शव मिले हैं। मृत बच्चों में दो लड़कियां हैं जबकि एक लड़का है।


सभी बच्चे किशोरवय के लगते हैं. मृतकों में महिला जाहिदा, दो लड़कियां मुस्कान व अल्फिया व लड़का अल्फेज शामिल हैं। दो मृतकों के मुंह से झाग निकले पाए गए। दो मृतकों के गले पर रस्सी से गला घोंटने के निशान मिले हैं। पुलिस प्रथम दृष्टया इसे हत्या से जुड़ा मामला मान कर जांच कर रही है। पूरे मामले में शक की सुई घर के मुखिया व महिला के पति की ओर घूम रही है, जो सोमवार की रात से लापता बताया जा रहा है। मामले की जानकारी मिलने पर सुनेल थाना पुलिस व पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। झालावाड़ से पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी व फारेंसिक टीम भी घटनास्थल के लिए रवाना हो गई है। अब पुलिस गहनता से सारे मामले की जांच में जुटी है कि आखिर इतनी बड़ी वारदात के पीछे की वजह क्या थी?


2 महीने बाद, शीर्ष नेताओं से मुलाकात

श्रीनगर। जम्‍मू-कश्‍मीर के प्रमुख राजनीतिक दल नैशनल कॉन्‍फ्रेंस के 15 सदस्‍यीय प्रतिनिधिमंडल को आर्टिकल 370 और 35A को समाप्‍त किए जाने के करीब दो महीने बाद पहली बार अपने शीर्ष नेताओं फारूक अब्‍दुल्‍ला और उमर अब्‍दुल्‍ला से मुलाकात की अनुमति दी गई। यह मुलाकात ऐसे समय पर हुई है, जब एनसी ने आर्टिकल 370 को खत्‍म किए जाने के मुद्दे पर चुप्‍पी साध रखी है। उधर, पार्टी सूत्रों के मुताबिक यह मुलाकात एनसी की एक सोची-समझी रणनीति का एक हिस्‍सा है।


नसी के सूत्रों ने कहा कि यह इस बात का संकेत हो सकता है कि एनसी आर्टिकल 370 पर केंद्र के प्रति अपने रुख में नरमी ला रही है। उन्‍होंने कहा कि पार्टी आर्टिकल 370 की बजाय अब जम्‍मू-कश्‍मीर को पूर्ण राज्‍य का दर्जा देने के लिए दबाव डालने पर फोकस करेगी। प्रतिनिधिमंडल की मुलाकात के दौरान यह बेहद महत्‍वपूर्ण रहा कि एनसी के सदस्‍यों ने राज्‍य को मिले विशेष दर्जे को समाप्‍त किए जाने पर कोई बात नहीं की। एनसी के नेताओं का फोकस अपनी दो मांगों पर रहा। इसमें सभी फारूक और उमर समेत सभी राजनीतिक बंदियों की रिहाई और कश्‍मीर में जारी प्रतिबंधों को खत्‍म करना।


एनसी का केंद्र सरकार के प्रति रुख नरम
बता दें कि राज्‍यपाल सत्‍यपाल मलिक द्वारा एनसी के सदस्‍यों को अपने नेताओं से मिलने की अनुमति देना राज्‍य में राजनीतिक गतिविधि को बहाल करने की दिशा में एक कदम माना जा रहा है। मुलाकात के बाद लोकसभा सांसद हसनैन मसूदी ने कहा कि फारूक और उमर अब्‍दुल्‍ला से बहुत 'अच्‍छे माहौल' में मुलाकात हुई। एक राजनीतिक विश्‍लेषक ने नाम नहीं बताने की शर्त पर कहा कि एनसी नेताओं के बयान, फारूक अब्‍दुल्‍ला का विक्‍ट्री साइन बनाना, इस बात का स्‍पष्‍ट संकेत है कि एनसी का केंद्र सरकार के प्रति रुख नरम हो रहा है।


आर्टिकल 370 पर पीडीपी का कड़ा रुख बरकरार
इस बीच राज्‍य में सामान्‍य स्थिति बहाल करने के लिए जहां एनसी का फोकस बदल गया है, वहीं पीडीपी ने आर्टिकल 370 और 35A को खत्‍म किए जाने पर अपना कड़ा रुख बरकरार रखा है। पीडीपी सूत्रों ने बताया कि इसी वजह से पार्टी सुप्रीमो महबूबा मुफ्ती और पीडीपी के नेताओं के बीच सोमवार को प्रस्‍तावित मुलाकात रद्द हो गई। पीडीपी ने रविवार को ऐलान किया था कि पार्टी के महासचिव वेद महाजन के नेतृत्‍व में एक प्रतिनिधिमंडल महबूबा से मुलाकात करेगा।


हालांकि बाद में यह बैठक रद्द कर दी गई। सोमवार को पीडीपी के सदस्‍य फिरदौस ताक ने कहा कि पार्टी के अंदर मतभेद के कारण इस बैठक को रद्द किया गया है। यह फैसला किया गया है कि 'आम सहमति बनने तक' महबूबा से मुलाकात नहीं की जाए। फिरदौस का यह स्‍पष्‍टीकरण ऐसे समय पर आया है जब पार्टी के महासचिव सुरिंदर चौधरी ने कहा था कि पीडीपी 'नैशनल कॉन्‍फ्रेस' की बी टीम नहीं है जो उसके पद चिन्‍हों पर चले।


राज्य में बीडीसी के चुनाव 24 अक्टूबर को
बता दें कि एनसी के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने राज्य में कोई भी राजनीतिक प्रक्रिया शुरू करने के लिए अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने के बाद से हिरासत में लिए गए और नजरबंद किए गए सभी लोगों की बिना शर्त रिहाई की मांग रखी है। एनसी के प्रवक्ता ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष ने शिष्टमंडल से कहा कि राज्य के लोगों ने विशेष दर्जा समाप्त किए जाने और राज्य को दो हिस्से में बांटे जाने पर शांतिपूर्ण तरीके से अपना विरोध जता दिया है और पार्टी इन भावनाओं को नजरअंदाज नहीं कर सकती है। राज्य में प्रखंड विकास परिषद (बीडीसी) के चुनाव 24 अक्टूबर को होने हैं और एनसी ने कहा है कि अगर उसके नेताओं को हिरासत में रखा जाता है तो वह इस चुनाव में हिस्सा नहीं ले पाएगी।


कमीशन खोरी के चलते निर्माण में बाधा

कमीशनखोरी के चलते खालापार के नाला निर्माण में आइ बाधा
मुजफ्फरनगर। लंबे समय के बाद वार्ड 49 में चल रहे नाला निर्माण को लेकर मंगलवार को कमीशनखोरी के चलते एक बार फिर काम रुकने की कगार पर आ चुका है। खालापार के एक चर्चित सभासद ने ठेकेदार को खुली धमकी दी है कि अगर उसको कमीशन नही दी गए तो काम होने नही दिया जाएगा। नाला निर्माण को लेकर गलियों की  पुलिया भी तोड़ी जा चुकी है जिसकी वजह से मोहल्ले वासियों को काफी दिक्कतें आ रही है ।ऐसे में चर्चित सभासद द्वारा काम रुकवानी की धमकी के बाद , समस्त मोहल्ले के लोगो ने कमीशनखोर सभासद के खिलाफ प्रदर्शन किया और कहा कि वह इसकी शिकायत नगरपालिका, सिटी मजिस्ट्रेट, व डीएम से करने से भी पीछे नही रहेंगे,क्यों कि जो सभासद ठेकेदार से कमीशन मांग रहा है वो उस वार्ड का ही नही है।और मौजूदा सभासद सरफराज न भी साफ कहा है कि वह कभी भी कमीशनखोरी के काम मे विश्वाश नही रखते है।जो भी लोग सरकारी काम मे बाधा डाले उसकी शिकायत सीधा मुख्यमंत्री पोर्टल व डीएम से करे।नाला निर्माण के काम मे उनकी तरफ से कोई व्यवधान नही है।


डीएम से की शिकायत:-खलापर के मोहल्ला वासियों ने कमीशन खोरी के चलते जब ठेकेदार दीपक से बात की तो ठेकेदार ने कहा कि या तो मुझ से काम अच्छा करा लो,या कमीशन दिला लो। इस बात से नाराज़ लोगो ने सीधा डीएम सेल्वा कुमारी को इस मामले से अवगत कराया । डीएम ने मामला संज्ञान लेते ही कार्यवाही का आस्वासन दिया।और कहा कि जो लोग ठेकेदार से रिश्वत मांग रहे है अगर उन्होंने काम मे व्यवधान डाला तो ऐसे लोगो के खिलाफ कार्यवाही कराई जाएगी।


हरीश के नेत्रहीन पिता ने की आत्महत्या

अलवर। राजस्थान में पहलू खान मॉब लिंचिंग केस को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पिछले तीन दिन से मामले में फिर से अपील की बात कर रहे हैं, लेकिन अब अलवर के ही एक और मॉब लिंचिंग केस पर बवाल शुरू हो गया है। दलित युवक हरीश जाटव की मॉब लिंचिंग में मौत के बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होने और कथित रूप से केस वापस लेने के धमकियों के बाद गुरुवार को मृतक के नेत्रहीन पिता रत्तीराम जाटव ने सुसाइड कर लिया। इस घटना के बाद पुलिस विभाग के अधिकारी डैमेज कंट्रोल में जुटे हुए हैं और शव के पोस्टमॉर्टम की प्रक्रिया जल्द करवाई जा रही है।
इस मॉब लिंचिंग केस में पुलिस की कथित लापरवाही और मजबूर पिता की आत्महत्या की खबर आने के बाद शुक्रवार को आक्रोशित दलित समाज के लोग टपूकड़ा में इकट्‌ठा हो रहे हैं। बीजेपी और बसपा नेता भी टपूकड़ा पहुंच रहे हैं। दलित समाज के आक्रोश को देखते हुए कस्बे में पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई है।


राज्यस्तरीय खादी ग्राम उद्योग आयोजन

बनारस। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के शुभ अवसर पर दिनांक 4से 25 अक्टूबर तक खादी और ग्रामोद्योग आयोग द्वारा तेलियाबाग स्थित कार्यालय परिसर में राज्यस्तरीय खादी ग्रामोद्योग प्रदर्शनी का आयोजन किया गया है। प्रदर्शनी का उद्घाटन राज मंत्री स्वतंत्र प्रभार रविंद्र जायसवाल के कर कमलों द्वारा आज संपन्न हुआ। राज्यस्तरीय प्रदर्शनी का विधिवत शुभारंभ फीता काटकर किया गया तथा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के चित्र पर माला पहनाया गया। तत्पश्चात माननीय राज मंत्री ने प्रदर्शनी का अवलोकन किया तथा प्रदर्शनी में उत्तर प्रदेश एवं अन्य राज्यों से आई खादी संस्थाओं व ग्रामोद्योग इकाइयों द्वारा प्रदर्शित विभिन्न उत्पादों जैसे सूती रेशमी ऊनी वस्त्रों से निमित्त मोदी जैकेट शाल स्वेटर लोई कंबल रजाई इत्यादि तथा ग्राम उद्योगी सामानों जैसे राजस्थानी भुजिया नमकीन कानपुर के चर्म निर्मित उत्पाद अगरबत्ती साबुन तेल हर्बल उत्पाद व आयुर्वेदिक उत्पादों के अतिरिक्त आवाला से बने हुए उत्पाद को देखकर प्रसन्नता व्यक्ति की तथा उन्होंने प्रतिवर्ष खादी और ग्रामोद्योग द्वारा आयोजित की जाने वाली प्रदर्शनी हेतु धन्यवाद दिया। उद्घाटन समारोह का शुभारंभ माननीय राज्य मंत्री रविंद्र जायसवाल एके गर्ग निदेशक द्वारा सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए खादी और ग्रामोद्योग आयोग द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय प्रदर्शनी एवं खादी ग्रामोद्योग आयोग द्वारा क्षेत्र में चलाए जा रहे हैं। विभिन्न कार्यक्रमों के बारे में विस्तार से बताया कार्यक्रम मैं बोलते हुए मुख्य अतिथि रविंद्र जायसवाल ने खादी और ग्रामोद्योग आयोग द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय प्रदर्शनी पर अपनी पसन्यता व्यक्त की तथा उन्होंने ग्रामीण क्षेत्र खादी और ग्रामोद्योग आयोग द्वारा चलाई जा रही विभिन्न गतिविधियों की भूरी भूरी प्रशंसा की। राज मंत्री ने खादी और ग्रामोद्योग आयोग के कार्यक्रमों की चर्चा करते हुए बताया कि आयोग के कार्यक्रमों द्वारा सुदूर ग्रामीण क्षेत्र के बेरोजगार एवं गरीब लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है यह बहुत बड़ी उपलब्धि है। राज मंत्री ने प्रदर्शनी में प्रदर्शित उत्पादों पर खुशी जाहिर करते हुए बताया कि इन उत्पादों को प्रदर्शनी के माध्यम से अच्छा बाजार मिलेगा। जिससे छोटे व मझोले उद्योगों को प्रोत्साहन लाभ के अतिरिक्त गार के अवसर उपलब्ध होंगे। कार्यक्रम के अंत में अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन केपी मिश्रा निदेशक द्वारा किया गया उद्घाटन के अवसर पर डीके सिंह, एके सिंह ओपी सिंह आदि उपस्थित थे।


रिपोर्ट-राजेंद्र प्रसाद जायसवाल


असफल रहा गड्ढा मुक्त सड़क-अभियान

गोरखपुर। चौरी चौरा क्षेत्र के सरदारनगर ब्लॉक के भगवानपुर से जाने वाले रास्तें मे गड्ढे का भरमार लगा है।आने जाने वाले लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। खासकर स्कूली बच्चों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।मुंडेरा बाजार मुख्य बाजार होने के नाते यहाँ पर प्रतिदिन लगभग कई हजारों लोगों की भीड़ इसी रास्ते से गुजरती है।लेकिन कई महीनों से यह सड़क गड्ढा युक्त हुआ है।कई बार लोग गिर कर चोटिल भी हो चुके हैं। स्थानीय लोग कई बार शिकायत भी कर चुके हैं लेकिन कोई जिम्मेदार ध्यान नहीं देता है।


शशि जयसवाल


अल्पसंख्यकों पर अत्याचार रोके चीन

चीन अपने अंदरूनी मामलों पर किसी देश को हस्तक्षेप नहीं करने देता, किन्तु दूसरे देशों के अंदरूनी मामलों में हस्तक्षेप करने में उसे कोई परहेज नहीं है। पाकिस्तान की शह पर चीन कश्मीर मामले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में उछालने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा। चीन जहाँ पाकिस्तान द्वारा फैलाये जा रहे दुष्प्रचार का समर्थन करता है, वहीं अपने ही देश के धार्मिक अल्पसंख्यकों का बर्बर दमन कर रहा है। 
चीन कई वर्षों से तिब्बती बौद्ध, वीगर मुस्लिम, हाउस क्रिस्चियन और फालुन गोंग साधना अभ्यासियों पर क्रूर अत्याचार कर रहा है। उनके अनुयायियों को गिरफ्तार कर लिया जाता है, कैद कर लिया जाता है, अत्याचार किया जाता है और अक्सर मार दिया जाता है। चीन में अरबों डॉलर का अवैध अंग व्यापार किया जा रहा है, जिसमें इन पीड़ित वर्गों के कैदियों की हत्या तक कर दी जाती है। 
अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में आये दिन चीनी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा धार्मिक अल्पसंख्यकों पर किये जा रहे अत्याचारों की खबरें छपती रहती हैं । इस लेख के द्वारा हम आपको बताना चाहते हैं कि हमारे लिए यह जानकारी क्यों प्रासंगिक है। 
वीगर मुस्लिमों का दमन शिनजियांग प्रांत में चीनी प्रशासन और वहां के स्थानीय वीगर मुस्लिम समुदाय के बीच संघर्ष का बहुत पुराना इतिहास है। सांस्कृतिक और जनजातीय रूप से वे स्वयं को मध्य एशियाई देशों के नज़दीकी मानते हैं। 
कम्युनिस्ट चीन ने 1949 में इस क्षेत्र पर अतिक्रमण कर लिया, तभी से बीजिंग का लक्ष्य शिनजियांग को राजनीतिक, आर्थिक और सांस्कृतिक रूप से एकीकृत करने और हान समुदाय को वहां बड़े पैमाने पर बसाने का रहा है। इस कारण वहां के वीगर निवासी अल्पसंख्यक बन गए। 
पिछले दशक के दौरान अधिकांश प्रमुख वीगर नेताओं को जेलों में ठूंस दिया जाता रहा या चरमपंथ के आरोप लगने के बाद वे विदेशों में शरण मांगने लगे। बीजिंग पर यह भी आरोप लगा कि इस इलाके में अपने दमन को सही ठहराने के लिए वो वीगर अलगवावादियों के ख़तरे को बढ़ा-चढ़ा कर पेश करता है।यहां के मुसलमानों के प्रति रवैये के लिए चीन की दुनिया भर में खूब आलोचना हो रही है। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार लगभग दस लाख वीगर मुसलमानों को री-एजुकेशन कैंप' में रखा गया है जहाँ उन पर दमन किया जाता है। विश्व वीगर कांग्रेस की अध्यक्षा रेबिया कदीर के अनुसार शिनजियांग प्रान्त की राजधानी उरुम्ची को “यातना शिविर” में तब्दील कर दिया गया है। संयुक्त राष्ट्र की जिनेवा स्थित नस्ली भेदभाव उन्मूलन समिति ने कैदी वीगर नागरिकों को तत्काल रिहा करने की मांग की है।


फालुन गोंग साधना अभ्यास का दमन
फालुन गोंग (जिसे फालुन दाफा भी कहा जाता है) बुद्ध और ताओ विचारधारा पर आधारित साधना अभ्यास है जो सत्य-करुणा-सहनशीलता के सिद्धांतों पर आधारित है। यह मन और शरीर की एक परिपूर्ण साधना पद्धति है जिसमें पांच सौम्य और प्रभावी व्यायामों का भी समावेश है, किन्तु बल मन की साधना या नैतिक गुण साधना पर दिया जाता है। फालुन गोंग की शुरुआत 1992 में श्री ली होंगज़ी द्वारा चीन की गयी। आज इसका अभ्यास दुनिया भर में, भारत सहित, 114 से अधिक देशों में किया जा रहा है। इसके स्वास्थ्य लाभ और आध्यात्मिक शिक्षाओं के कारण फालुन गोंग चीन में इतना लोकप्रिय हुआ कि 1999 तक करीब 7 से 10 करोड़ लोग इसका अभ्यास करने लगे। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की मेम्बरशिप उस समय 6 करोड़ ही थी। उस समय के चीनी शासक जियांग जेमिन ने फालुन गोंग की शांतिप्रिय प्रकृति के बावजूद इसे अपनी प्रभुसत्ता के लिए खतरा माना और 20 जुलाई 1999 को इस पर पाबंदी लगा कर कुछ ही महीनों में इसे जड़ से उखाड़ देने की मुहीम चला दी। पिछले 20 वर्षों से फालुन गोंग अभ्यासियों को चीन में यातना, हत्या, ब्रेनवाश, कारावास, बलात्कार, जबरन मज़दूरी, दुष्प्रचार, निंदा, लूटपाट, और आर्थिक अभाव का सामना करना पड रहा है। अत्याचार की दायरा बहुत बड़ा है और मानवाधिकार संगठनों द्वारा दर्ज़ किए गए मामलों की संख्या दसियों हजारों में है।


तिब्बती लोगों का दमन
राजनीतिक दृष्टि से तिब्बत कभी चीन का अंग नहीं रहा। माओ ज़े दोंग को तिब्बत के बिना कम्युनिस्ट चीन की आजादी अधूरी लगी। अंतत: 7 अक्तूबर, 1950 को चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने तिब्बत पर आक्रमण कर दिया और 1951 में तिब्बत को हड़प लिया।1956-1958 के दौरान तिब्बत में स्वतंत्रता के लिए कई संघर्ष हुए। 1959 तिब्बत के स्वतंत्रता इतिहास में बड़ा संघर्ष का वर्ष रहा। चीन ने स्वतंत्रता आन्दोलन को दबाने के लिए सभी हथकण्डे अपनाए। हजारों तिब्बतियों को पकड़कर चीन की जेलों में रखा गया। लगभग 60,000 तिब्बतियों का बलिदान हुआ। तिब्बत के बौद्ध धर्मगुरु दलाई लामा को रातों-रात निर्वासित हो कर भारत में शरण लेनी पड़ी। 
1959-2019 तक अर्थात पिछले 60 वर्षों से चीनियों का तिब्बत में यह खूनी दमन चक्र निरन्तर चल रहा है। चीन दलाई लामा और उनके समर्थकों को अलगाववादी ठहराता है। चीन के ऊपर तिब्बत में धार्मिक दमन और वहाँ की संस्कृति के साथ छेड़-छाड़ का आरोप लगता रहता है। तिब्बत में आज भी भाषण, धर्म या प्रेस की स्वतंत्रता नहीं है और चीन की मनमानी जारी है।


हाउस क्रिस्चियन समुदाय पर दमन 
हाल के वर्षों में चीन में ईसाइयों की संख्या में तेज़ी से वृ​द्धि हुई है। एक अनुमान के मुताबिक़ चीन में 10 करोड़ ईसाई रहते हैं किन्तु इनमें से अधिकतर भूमिगत चर्चों (हाउस चर्च) में पूजा करते हैं। चीन की सरकार ईसाइयों को राज्य-स्वीकृत चर्चों में से किसी एक में शामिल होने के लिए दबाव डालती है, जो कम्युनिस्ट पार्टी की विचारधारा से सहमति रखते हैं।
इन हाउस चर्चों पर नियंत्रण के लिए कम्युनिस्ट पार्टी लगातार कार्रवाई कर रही है। इसके तहत सैकड़ों चर्च तोड़ दिए गए। बाइबिल जला दी गईं। घरों में होली क्रॉस और जीसस की जगह राष्ट्रपति शी जिनपिंग के फोटो लगाने का आदेश जारी हुआ है। चीन की सरकार ने बाइबल की ऑनलाइन बिक्री पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।


चीन में संगीन अंग प्रत्यारोपण अपराध
पिछले कुछ वर्षों में चीन अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अंग प्रत्यारोपण के लिए पर्यटन केंद्र के रूप में उभरा है। आश्चर्यजनक यह है कि चीन में अंग प्रत्यारोपण की प्रतीक्षा अवधि बहुत कम है – केवल कुछ हफ्ते। जबकि दूसरे देशों में अनुकूल अंग मिलने में वर्षों लग जाते हैं। तो यह कैसे संभव है?
यह अविश्वसनीय लगता है, किन्तु चीन में अंगों के प्रत्यारोपण के लिए अंग न केवल मृत्युदण्ड प्राप्त कैदियों से आते हैं, बल्कि बड़ी संख्या में कैद फालुन गोंग व अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों से आते हैं। चीन में मानवीय अंग प्रत्यारोपण के इस अपराध में बड़े पैमाने पर अवैध धन कमाया जा रहा है। चीन के अवैध मानवीय अंग प्रत्यारोपण उद्योग का सालाना कारोबार 1 बिलियन डॉलर का है।स्वतंत्र जाँच द्वारा यह प्रकाश में आया है कि चीनी शासन, सरकारी अस्पतालों की मिलीभगत से, कैदियों के अवैध मानवीय अंग प्रत्यारोपण के अपराध में संग्लित है। इस अमानवीय कृत्य में हजारों फालुन गोंग अभ्यासियों की हत्या की जा चुकी है।


यह भारत के लिए प्रासंगिक क्यों है?
पिछले कुछ समय से भारत और चीन के बीच संबंध तनावपूर्ण रहे हैं। भारत पर दबाव बनाने के लिये चीन मसूद अजहर समर्थन, अरुणाचल प्रदेश, डोकलाम, कश्मीर आदि का इस्तेमाल करता रहा है। किंतु चीन स्वयं आज एक दोराहे पर खड़ा है। एक ओर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी है जिसका इतिहास झूठ, छल और धोखाधड़ी का रहा है। दूसरी ओर वहां लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता की आवाजें उठ रही हैं। भले ही चीन आज एक महत्वपूर्ण आर्थिक शक्ति है और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का सदस्य है किंतु उसके नागरिक स्वतंत्र नहीं हैं। 
चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की धारणाएं और नीतियां उन सभी चीजों का खंडन करती हैं जिनका भारत जैसी एक प्राचीन संस्कृति और आधुनिक लोकतंत्र प्रतिनिधित्व करता है। भारत के पास चीन को सिखाने के लिये बहुत कुछ है। भारत को चीन में हो रहे घोर मानवाधिकार हनन की निंदा करनी चाहिए। यही सोच भारत को विश्वगुरु का दर्जा दिला सकती है। हम भारत को मानवता के पक्ष का समर्थन करने और इतिहास के सही पक्ष में खड़ा होते देखने के लिए उत्सुक हैं।


खबर-नेहा


अपमिश्रित शराब के साथ दो गिरफ्तार

अपमिश्रित शराब के साथ ,दो गिरफ्तार


रामायण यादव 
कुशीनगर। जनपद में अबैध शराब की परिवहन, निष्कर्षण,बिक्री पर नियंत्रण करने के लिये चलाये जा रहे पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार मिश्र के सफल अभियान में आज तमकुहीराज पुलिस चौकी पुलिस ने दो लोगो को अपमिश्रित शराब के साथ गिरफ्तार किया है। मुखबीर की सूचना पर आज रास्ट्रीय राज मार्ग 28 स्‍थित माधोपुर के पास सुनील सिह पुत्र स्व राजेन्द्र सिंह निवासी पकड़ी गोसाई पट्टी थाना तुर्कपट्टी, अमलेश बैठा पुत्र चंडी बैठा निवासी गौरहा थाना तरयासुजान के पास से बीस लीटर अप मिश्रित शराब, दो किलो यूरिया के साथ गिरफ्तार किया है। चौकी प्रभारी शमसेर यादव ने बताया की सम्बंधित अभियोग पंजीकृत कर अभियुक्तों को जेल भेजा जा रहा है।


प्रतिनिधि समेत चार पर रेप व उत्पीड़न दर्ज

प्रधान प्रतिनिधि समेत चार पर रेप व दलित उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज
रामायण यादव


कुशीनगर। जनपद के हनुमानगंज थानाक्षेत्र के एक गांव की रहने वाली दलित महिला की तहरीर पर हनुमानगंज पुलिस ने गांव के प्रधान प्रतिनिधि सहित चार लोगों के विरुद्ध दुष्कर्म, मारपीट व दलित उत्पीड़न का मुकदमा पंजीकृत कर विवेचना शुरू कर दी है।
थानाक्षेत्र के एक गांव की रहने वाली तीन बच्चों की मां ने पुलिस को दी तहरीर में आरोप लगाया है कि जुलाई माह में शाम को वह शौच के लिए गांव से बाहर गयी थी, तभी वर्तमान ग्राम प्रधान पति व उनके तीन सहयोगी पहुंचे और जबरदस्ती दो लोगों ने रेप किया। आरोप है कि गाली-गलौज व जातिसूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए धमकी दी। हनुमानगंज पुलिस ने रेप सहित दलित उत्पीड़न का मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।
इस संबंध में पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार मिश्र का कहना है कि तहरीर के आधार पर रेप व दलित उत्पीड़न आदि धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया गया है। साक्ष्य के आधार पर विवेचना की जाएगी।


हिंदू संस्कृति पर आघात बर्दाश्त नहीं

हिन्दू संस्कृति पर आघात सहन नही किया जाएगा।              हिन्दू जागरण मंच युवा वाहिनी गाज़ियाबाद के  नेतृत्व में बंथला तिराहा पर पुतला दहन किया गया कार्यक्रम के संयोजक प्रेमपाल वर्मा, लोनी नगर अध्यक्ष नितिन शर्मा ने सलमान खान की शव यात्रा बंथला तिराहे से बंथला फ्लाईओवर के नीचे चिरोड़ी रोड तक निकाली ओर जूतों की माला डालकर पुतला दहन किया। इस अवसर पर लोनी के हिन्दू ह्रदय सम्राट भाजपा नेता विजेन्द्र त्यागी ने बोलते हुये बताया कि बिग बॉस जैसे फूहड़ सीरियल में सलमान खान द्वारा हिन्दू संस्कृति को आघात पहुचाने का कुकृत्य किया जा रहा है। लव जेहाद को बढ़ावा देकर धार्मिक संस्कृति को छेड़ने का प्रयास किया जा रहा है। देश मे ऐसे लोगो के खिलाफ सभी समाजो को एक जुट होकर आवाज उठानी चाहिये। देश बदल रहा है लेकिन कुछ लोग अभी भी राष्ट्र की एकता और अस्मिता को भंग करने का प्रयास कर रहे हैै। ऐसे लोगो का हर रूप से बहिष्कार होना चाहिये। ऐसे लोगो का मुंह काला कर देश निकाला किया जाना चाहिये। कार्यक्रम में धर्मेन्द्र राठी थाना संयोजक लोनी,राजेश राय लोनी बॉर्डर थाना संयोजक ,अवधेश चौहान ,प्रचार प्रमुख,संजीव सिंह नगर कोषाध्यक्ष ,मोहित शर्मा कार्यकारिणी सदस्य , युवा हनुमान चालीसा टीम से सन्नी शर्मा ,जोनी चौधरी ,राहुल चौहान समेत सैकड़ो हिन्दू संघठन के कार्यकर्ता और आम जनमानस मौजूद रहे।


प्रियंका ने जमाया लखनऊ में डेरा

लखनऊ। पूर्व कैबिनेट मंत्री शीला कौल का घर होगा कांग्रेस महासचिव प्रियंका का नया ठिकाना।यूपी में पार्टी को नए सिरे से खड़ा करने के लिए प्रियंका ने राजधानी में अधिकाधिक रुकने का फैसला भी किया है।लोकसभा चुनाव में करारी हार के बाद प्रियंका ने यूपी के कांग्रेसियों को अलग-अलग बुलाकर दिल्ली में मुलाकात की थी। सभी ने उन्हें फीडबैक दिया कि अगर कांग्रेस को यूपी में मजबूत करना है तो उन्हें अधिक समय देना पड़ेगा।


पोस्टमार्टम के बाद सपाइयों का आक्रोश

पोस्टमार्टम होते ही सपाइयों का आक्रोश फूटा



झांसी। पुलिस के हाथों एनकाउंटर में मारे गए पुष्पेंद्र यादव का देर शाम शव जैसे ही कड़ी सुरक्षा के बीच फोर्स लेकर रवाना हुई, सपा नेताओं और कार्यकर्ताओं का आक्रोश फूट पड़ा। सैकड़ों की संख्या में सपाइयों ने परिजनों के साथ जमकर बवाल किया। मेडिकल कालेज के गेट नंबर तीन पर जाम कर पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। कुछ पुलिस वालों से अभद्रता कर उनके साथ धक्कामुक्की भी सपाइयों ने की। परिजनों और सपा नेताओं का आरोप है कि षडयंत्र के तहत पुलिस वालों ने लेनदेन के विवाद में हत्या की है। दोषी पुलिस वालों के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर तत्काल गिरफ्तारी की जाएगी।


बुन्देलखंड स्थित झांसी में देर रात पुलिस की तरफ से किए गए खनन माफिया पुष्पेंद्र यादव के एनकाउंटर पर सवालिया निशान उठने लगे हैं। समाजवादी पार्टी के राज्यसभा सांसद चंद्रपाल यादव ने पुलिस की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा करते हुए कहा कि “ एनकाउंटर नहीं यह मर्डर है”। सांसद का आरोप है कि लेनदेन में हत्या के बाद पुलिस ने कथित  एनकाउंटर की फेक “कहानी” गढ़ दी है। श्रीयादव ने दोषी पुलिस वालों के खिलाफ हत्या की FIR रजिस्टर्ड करने की मांग करते हुए कहा कि वे इस गंभीर मामले को संसद में उठाएंगे। उनके इस बड़े बयान के बाद से झांसी पुलिस“बैकफुट” पर है।


क्या है पूरा मामला ?


शनिवार देर रात मोंठ कोतवाल धर्मेंद्र सिंह चौहान Kanpur से Jhansi वापस जा रहे थे। वे छुट्टी पर घर आए थे। पुलिस अफसरों के मुताबिक बम्हौरी चौराहे के पास खनन माफिया पुष्पेंद्र यादव ने कोतवाल को घेर लिया और मारपीट कर उन पर फायरिंग की। इसके बाद हमलावर इंस्पेक्टर की क्रेटा कार लूटकर भाग निकले। सूचना पर पुलिस ने घेराबंदी की। गुरसरांय थाना एरिया में लोकेशन के बाद फोर्स ने घेरा तो पुष्पेंद्र ने फायरिंग की। क्रॉस फायरिंग में पुष्पेंद्र घायल हो गया। उसे अस्पताल ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।


मीडिया से बातचीत में पुष्पेंद्र के चचेरे भाई और चाचा ने बताया कि उसके खिलाफ कोई मुकदमा पंजीकृत नहीं था। पुष्पेंद्र के पास दो ट्रक थे। वो बालू को काम करता था। कब और क्या हो गया ? किसी को मालुम ही नहीं चला। सुबह कुछ दोस्तों ने फोन कर जानकारी दी। जिसके बाद सभी लोग मऊरानीपुर पोस्टमार्टम हाउस पहुंचे। परिजनों का कहना है कि पुलिस ने सूचना देना भी मुनासिब नहीं समझा। वहीं, सूत्रों की मानें तो तनाव को देख पुष्पेंद्र के गांव में फोर्स की तैनाती की गई है।


नहीं जलेगा बाबा 'रावण' का पुतला

ग्रेटर नोएडा वेस्ट के बिसरख गांव में है रावण की जन्मस्थली, जानिए तांत्रिक चंद्रास्वामी ने यहां क्या किया 



गौतमबुध नगर। ग्रेटर नोएडा वेस्ट के बिसरख गांव को लंकापति रावण की जन्मस्थली माना जाता है। गांव में पहले रामलीला का मंचन नहीं होता था। रावण के पुतले का दहन तो आजतक नहीं हुआ है। लोगों का कहना है कि जब भी ग्रामीणों ने रावण के पुतले का दहन किया या करने का प्रयास किया तो गांव में कोई बड़ी दुर्घटना या अपशकुन हो गया। गांव के लोग रावण को बाबा कहते हैं।


गांव के लोग भगवान राम को आदर्श मानकर उनकी पूजा तो करते हैं लेकिन रावण को भी गलत नहीं मानते हैं। यही कारण है कि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक विजयदशमी पर्व बिसरख गांव में हर्षोल्लास से नहीं मनाया जाता है। ग्रामीणों ने बताया कि पहले तो विजयदशमी के मौके पर गांव में मातम जैसा माहौल रहता था। समय के साथ अब लोगों की सोच में बदलाव आया है। हालांकि, लोगों को न तो अब रामलीला के मंचन से परहेज है और न रावण दहन से कोई गुरेज है। देश-दुनिया में रावण को लेकर जो अवधारणा लोगों में है, वही बिसरख गांव के लोगों की भी है।


मान्यता है कि बिसरख में हुआ था रावण का जन्म -


बिसरख को रावण की जन्मस्थली माना जाता है। मान्यता है कि गांव में अष्टभुजाधारी शिवलिंग की स्थापना रावण के पिता महर्षि विश्रवा ने की थी। पुराणों में भी इसका उल्लेख है। इसी शिवलिंग के पास बैठकर उन्होंने घोर तपस्या की थी। इसके बाद ही रावण का जन्म हुआ। ऋषि विश्रवा के नाम पर ही गांव का नाम बिसरख पड़ा। अष्ठभुजाधारी मंदिर के पुजारी का कहना है कि ऐसा शिवलिंग किसी मंदिर में नहीं है। चर्चित तांत्रिक चंद्रास्वामी ने 1984 में मंदिर की खुदाई करवाई थी। 20 फीट तक खुदाई के बाद भी शिवलिंग का छोर नहीं मिला था। खुदाई के दौरान चंद्रास्वामी को 24 मुख का शंख मिला था। जिसे वह अपने साथ ले गया था। मंदिर के पास ही एक सुरंग मिली थी, जो थोड़ी दूर खंडरों में जाकर समाप्त हो गई। अब भी यह सुरंग मंदिर के पास बनी हुई है। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर भी एक बार शिव मंदिर पर आकर पूजा अर्चना कर चुके हैं। मान्यता है कि जो भी व्यक्ति मंदिर पर पूजा अर्चना करता है, उसकी मनोकामना पूरी हो जाती है।


मन्दिर के पुजारी महंत रामदास की मानें तो बिसरख के इसी मंदिर पर ऋषि विश्रवा ने घोर तपस्या की थी। भगवान शिव ने खुश होकर ऋषि विश्रवा को पुत्र प्राप्ति का वरदान दिया था। इसके बाद रावण का जन्म हुआ। आगे चलकर रावण भी भगवान शिव के बड़े तपस्वी बने। रावण की अपार शक्ति और ज्ञान शिव की तपस्या से ही प्राप्त हुआ था।


गांव के चारों ओर बस चुका है शहर:- बिसरख गांव कभी हिंडन नदी के किनारे और चारों ओर जंगल से घिरा था। ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण ने यहां उद्योग लगाने के लिए भूमि अधिग्रहण किया था। लेकिन वर्ष 2009 में भूमि उपयोग में परिवर्तन करके ग्रेटर नोएडा वेस्ट के रूप में नया शहर बसाने की प्रक्रिया शुरू की गई। अब बिसरख गांव चारों ओर ऊंची-ऊंची हाउसिंग सोसायटियों से घिर चुका है। गांव का भी पूरी तरह कायाकल्प हो चुका है। रावण के मंदिर का भी नए सिरे से जीर्णोद्धार किया गया है ।


पूर्व सांसद ने थामा सपा का हाथ

राम केवल यादव


अमेठी। पूर्वांचल की राजनीति में मजबूत पैठ रखने वाले लोगो के चहेते पूर्व सांसद का सपा में शामिल होते ही जिले के कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर दौड़ गयी। जिनका जिले के सपा कार्यकर्ताओं व सांसद समर्थकों द्वारा जगह जगह जोरदार ढंग से गर्मजोशी के साथ स्वागत किया गया। सपा जिलाध्यक्ष छोटेलाल यादव की अगुवाई में जगदीशपुर कस्बे में जोरदार स्वागत किया गया। इसके बाद वारिसगंज में मुन्ना यादव, सूबेदार यादव अधिवक्ता की अगुवानी में सैकड़ो कार्यकर्ताओ के साथ स्वागत किया। मुसाफिरखाना काफिला पहुँचते ही सपा के वरिष्ठ नेता राम उदित यादव ने भी सांसद को फूल मालाओं से लाद दिया। इसके बाद सांसद का कारवां अमेठी बार्डर के करथुनी के पास पहुँचा जहाँ पूर्व जिला पंचायत सदस्य रमा शंकर यादव मझना के नेतृत्त्व में काफी संख्या में जिला पंचायत सदस्य, क्षेत्र पंचायत सदस्य, प्रधानगण आदि ने जोरदार ढंग से स्वागत किया। पूर्व सांसद ने मौजूद लोगों को पार्टी के लिए निरन्तर काम करने का आह्वान किया। पूर्व सरकार द्वारा कार्यो की समीक्षा लोगो से करके मौजूदा सरकार के क्रिया कलाप को बताये जिससे उन्हें इस सरकार के काम का सही आकलन हो जाय। उन्होंने कहाकि वो आजीवन पार्टी के लिये अखिलेश के नेतृत्त्व में काम करेंगे। पार्टी का कार्यकर्ता हमे कभी भी सुख दुख में याद करेगा उसके साथ मिलेंगे। हमारे घर के दरवाजे सदा उनके लिये खुला मिलेगा। इस मौके उन्होंने जनसमूह को दशहरा पावन पर्व की बधाई दी। कि सदा ही बुराई पर सच्चाई की जीत होती है। इस अवसर पर सत्य नारायण यादव दाढ़ी प्रधान, रमा शंकर यादव जिला पंचायत सदस्य, डॉ सी पी यादव प्रधान सराय भागमनी, शिव बरन यादव पूर्व प्रधान राघीपुर, श्रीराम यादव पूर्व प्रधान यादव, अरविंद कुमार आदि लोग मौजूद रहे।


तनिष्ठा चटर्जी को एशियन स्टार अवॉर्ड

अभिनेत्री तनिष्ठा चटर्जी को प्रतिष्ठित बुसान अंतर्राष्ट्रीय फिल्मोत्सव के 24वें संस्करण में एशियन स्टार अवार्ड से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार उन्हें उनके निर्देशन में बनने वाली पहली फिल्म रोम रोम में के लिए मिला। तनिष्ठा इस उपलब्धि को अपनी टीम के लिए एक बहुत बड़ा गौरव मानती हैं। टीम ने इस फिल्म को बनाने में काफी मेहनत की।


तनिष्ठा ने कहा, एक निर्देशक के तौर पर मेरी इस डेब्यू फिल्म का सबसे बड़े फिल्म फेस्टिवल में से एक में आधिकारिक चयन होना ही मेरे लिए सबसे बड़ी बात है और इससे भी बड़ी बात एशिया स्टार अवार्ड जीतना है। इससे ज्यादा अच्छा मेरे लिए कुछ और नहीं हो सकता।
फिल्म की कास्ट और क्रू की उपस्थिति में इस अवार्ड को मैरी क्लेयर और बुसान इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल द्वारा संयुक्त रूप से दिया गया।
तनिष्ठा की इस फिल्म में नवाजुद्दीन सिद्दीकी मुख्य भूमिका में हैं और उनके साथ वैलेंटिना कोर्टी, ईशा तलवार, फ्रांसेस्को एपोलीनी, उरबानो बार्बेरिनी, पामेला विलेरोसी और एंड्रिया स्कार्डुजियो जैसे कलाकार भी हैं। यह एक बहुभाषी फिल्म है जो हिंदी, अंग्रेजी और इतालवी में बनी है।


अंधाधुन ने इंडस्ट्री में स्थापित किया

मुबंई। नैशनल अवॉर्ड विनिंग ऐक्टर आयुष्मान खुराना के लिए अंधाधुन एक ऐसी फिल्म है, जो हमेशा उनके दिल के बेहद करीब रहेगी। फिल्म न केवल हिट हुई बल्कि इसने उन्हें बेस्ट ऐक्टर का पहला नैशनल अवॉर्ड भी दिलाया। इस फिल्म के रिलीज की पहली ऐनिवर्सरी पर आयुष्मान ने कहा कि सर्वश्रेष्ठ फिल्म का राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने वाली इस फिल्म ने और एक बेहतर ऐक्टर बनाया है। 
एक के बाद एक लगातार 6 ब्लॉकबस्टर फिल्में देने वाले इस आयुष्मान ने कहा, एक कलाकार के रूप में मैं लगातार अभिनय की बारिकियां सीखने वाले एक छात्र की तरह हूं। मैं हमेशा उन फिल्मों की तलाश में रहता हूं जो मुझे बेहतर बनाती हैं, जो मेरी सोच, मेरे विश्वासों को चुनौती देती हैं और नई चीजों को प्राप्त करने के लिए मुझे प्रेरित करती हैं। अंधाधुन वास्तव में एक ऐसी फिल्म रही है, जिसने मुझे आज एक अभिनेता के रूप में आकार दिया है।
आयुष्मान को आज कॉन्टेंट सिनेमा का पोस्टर बॉय कहा जाता है और उन्हें बॉलिवुड की सबसे अच्छी स्क्रिप्ट चुनने वाला माना जाता है। अंधाधुन एक सस्पेंस थ्रिलर फिल्म थी जिसमें आयुष्मान ने एक ऐसे पियानो बजाने वाले की भूमिका निभाई थी जो अंधे होने का नाटक करता है।
आयुष्मान को लगता है कि इस फिल्म का उन पर बहुत प्रभाव है। उन्होंने कहा, इसने (अंधाधुन ने) मुझे अपनी बाधाओं को चुनौती देना सिखाने के साथ ही मेरी कला को अलग तरह से दिखाया, जिसने न सिर्फ मुझे बल्कि दर्शकों के लिए भी यह फिल्म खास है। मैं डायरेक्टर श्रीराम राघवन का आभारी हूं कि उन्होंने मुझ पर भरोसा किया। उन्होंने यह भी कहा कि अंधाधुन ने उन्हें इतनी खूबसूरत यादें दी हैं कि वह इस फिल्म में अपने किरदार के ऊपर पूरी किताब लिख सकते हैं।


दीपिका का रणवीर को करारा जवाब

मुबंई। दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह बॉलिवुड के सबसे चहेते कपल्स में से एक हैं। ऑनस्क्रीन हो या ऑफस्क्रीन, फैन्स को इनको साथ देखना हमेशा अच्छा लगता है। सिर्फ कैमरे पर ही नहीं, सोशल मीडिया पर भी दोनों अकसर मस्ती करते नजर आते हैं। सोशल मीडिया पर दीपिका और रणवीर एक-दूसरे की टांग खींचने से बाज नहीं आते। एक बार फिर दोनों की ऐसी ही मस्ती देखने को मिली है। 
दीपिका पादुकोण ने इंस्टाग्राम पर अपने स्कूल रिपोर्ट्स की कुछ तस्वीरें शेयर कीं। इनमें से एक पर लिखा था कि दीपिका को निर्देश का पालन करना सीखना चाहिए।
इसपर रणवीर सिंह ने कॉमेन्ट किया कि वह टीचर से सहमत हैं। पति के ऐसे कॉमेन्ट के बाद दीपिका का वही रिऐक्शन था जो किसी भी बीवी का होता। रणवीर के इस कॉमेन्ट पर रिप्लाई करते हुए दीपिका ने लिखा, आज रात को तुम्हें खाना नहीं मिलेगा।
बता दें कि रणवीर सिंह और दीपिका पादुकोण फिल्म 83 में साथ नजर आने वाले हैं। यह फिल्म 1983 में भारतीय क्रिकेट टीम के वर्ल्ड कप जीतने के सफर पर बेस्ड है।


शस्त्र पूजा से कांप उठेगा दुश्मन

पेरिस। इस बार दशहरा पर होने वाली शस्‍त्र पूजा पूरे भारत के लिए बेहद खास होने वाली है। यह इतनी खास है कि इसने हर भारतीय को अपना सीना गर्व से चौड़ा करने का हक भी दिया है। दशहरा पर शस्‍त्र पूजा का चलन यूं तो काफी पुराना है, लेकिन उत्‍तर भारत में इसकी रंंगत देखते ही बनती है।


 संघ हर वर्ष दशहरा वाले दिन शस्‍त्र पूजा करता है।दशहरा पर इस बार शस्‍त्र पूजा की गूंज भारत की सरहद को लांघ कर फ्रांस तक सुनाई देगी। ऐसा इसलिए क्‍योंकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह वहां पर राफेल फाइटर जेट की पूजा करेंगे।


आपको बता दें कि 8 अक्‍टूबर को ही फ्रांस आधिकारिक तौर पर भारत को राफेल विमान सौंपेगा। इसी वजह से रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पेरिस गए हैं। यहां पर वह राफेल विमान में उड़ान भी भरेंगे। इसके साथ ही वह इस विमान में उड़ान भरने वाले देश के पहले रक्षा मंत्री भी बन जाएंगे। राजनाथ की शस्‍त्र पूजा के साथ ही दुनिया के सबसे ताकतवर लड़ाकू विमानों में गिना जाने वाला राफेल भारतीय वायुसेना में शामिल भी हो जाएगा। राफेल की बात करें तो यह ऐसे शुभ मौके पर भारतीय वायुसेना को मिल रहा है जब बुराई पर अच्‍छाई की जीत का जश्‍न पूरे भारत में दशहरा के रूप में मनाया जा रहा है। इसके अलावा यह इत्‍तफाक ही है कि इसी दिन भारतीय वायु सेना दिवस भी है। राफेल विमान मीटियोर और स्काल्प मिसाइलों से लैस होंगे। इनकी मारक क्षमता इतनी बेजोड़ है कि इसके बाद इस पूरे क्षेत्र में भारत का दबदबा पहले से कहीं अधिक बढ़ जाएगा। 


जबरदस्त मारक क्षमता की मिसाइल 
वहीं स्‍काल्‍प मिसाईल की मारक रेंज काफी अधिक है। यह मिसाइल किसी भी मौसम में लक्ष्‍य को भेद सकती है। फिलहाल यह मिसाइल फ्रांस के अलावा ब्रिटेन के पास भी है।गल्‍फवार के दौरान इसका इस्‍तेमाल हो चुका है। भारत के लिए ये दोनों मिसाइलें गेमचंजर साबित होंगी। जो नई पीढ़ी की क्‍लोज रेंज वाली मिसाइल है। इसको लेकर कंपनी ने भारत डायनामिक्‍स लिमिटेड से एक समझौता भी किया है। बड़े ठिकानों को तबाह करने में यह मिसाइल बेहद खास है। इस लिहाज से यह शस्‍त्र पूजा भारत की भविष्‍य की मजबूती के लिए बेहद खास है।


वायुसेना का अपाचे हेलीकॉप्‍टर 
वायुसेना की मजबूती की ही बात करें तो दशहरा पर होने वाले वायुसेना दिवस समारोह में चिनूक और अपाचे हेलीकॉप्‍टर भी दिखाई देने वाले हैं। भारत की रक्षा के लिए ये दोनों ही हेलीकॉप्‍टर बेहद खास हैं। अपाचे की ही बात करें तो डबल पायलट वाला ये हेलीकॉप्‍टर 18 फीट ऊंचा और इतना ही चौड़ा भी है। इसकी रफ्तार के आगे दूसरे हेलीकॉप्‍टर काफी बौने दिखाई देते हैं। इसकी रफ्तार 280 किमी प्रति घंटा है।भारत को 22 अपाचे मिलने हैं। फिलहाल भारत को आठ अपाचे मिलें है और अन्‍य 14 मार्च 2020 तक भारतीय वायुसेना को मिल जाएंगे। इसकी कई खूबियों से एक इसका दुश्‍मन के राडार की पकड़ में न आना भी है। इसमें 16 एंटी टैंक मिसाइल लग सकती हैं जो दुश्‍मन पर कहर बरपा सकती हैं। इसके अलावा इसमें लगने वाली 30MM की 1,200 गोलियां एक बार में लोड की जा सकती हैं। इतना ही नहीं ये हेलीकॉप्‍टर एक बार में करीब पौने तीन घंटे या करीब 550 किमी तक उड़ सकता है। इस खास हेलीकॉप्‍टर के लिए ट्रेनिंग भी बेहद खास है। इसके हर पायलट पर सरकार को लाखों डॉलर खर्च करने पड़ेंगे।


अब बात चिनूक की भी कर लेते हैं। ये हेलीकॉप्‍टर कुछ ही समय में सेना के जवानों को किसी भी दुर्गम इलाके में ले जाने में सक्षम है। यह किसी भी मौसम में उड़ान भर सकता है। यह हेलीकॉप्‍टर 11 टन तक का भार उठा सकता है।किसी तरह की आपदा आने पर भी यह हेलीकॉप्‍टर राहत कार्य में अग्रणी भूमिका निभा सकता है। वर्ष 2015 में बोइंग से हुए करार के मुताबिक भारत को कुल 15 हेलीकॉप्‍टर मिलने हैं, जिनमें से चार को सौंप भी दिया गया है। अन्‍य हेलीकॉप्‍टर अगले वर्ष तक भारत को मिल जाएंगे। भारतीय रक्षा प्रणाली को मजबूती देने के लिए किया गया यह पूरा सौदा 8048 करोड़ रुपये का है। दुनिया के 18 देशों की सेनाएं इस हेलीकॉप्‍टर का इस्‍तेमाल करती हैं।


द्वारका की रामलीला में शामिल राष्ट्रपति-पीएम

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में मंगलवार को दशहरा पर्व को लेकर रामलीला कमेटियों की तैयारियां लगभग पूरी हो चुकी हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार लालकिला की जगह द्वारका श्रीरामलीला कमेटी के मंच पर मौजूद रहेंगे। लालकिला स्थित माधव दास पार्क में धार्मिक रामलीला में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी उपस्थित रहेंगी। वीवीआईपी गतिविधियों के चलते सोमवार को दिल्ली पुलिस ने इन स्थलों पर सुरक्षा के बंदोबस्त बढ़ा दिए हैं। लालकिला मैदान और द्वारका की रामलीला कमेटियों के साथ आसपास के इलाके का राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने सोमवार को जायजा लिया। दशहरे को लेकर रामलीलाओं में कहीं 60 तो कहीं 80 फीट तक के रावण के पुतले तैयार किए गए हैं। रोहिणी के जपानी पार्क में करीब 60 तो इंद्रप्रस्थ रामलीला में 80 फीट के रावण का दहन किया जाएगा। यहां कुंभकरण की 70 और मेघनाद के पुतले की ऊंचाई करीब 65 फीट है।


जल्दबाजी में कोई कार्य न करें: कुंभ

राशिफल


मेंष-व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। परीक्षा व साक्षात्कार आदि में सफलता प्राप्त होगी। पार्टनरों से मतभेद दूर होकर सहयोग प्राप्त होगा। किसी बड़ी समस्या से मुक्ति मिलेगी। भाग्य का साथ मिलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी।


वृष-पुराना रोग उभर सकता है। अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। आर्थिक‍ स्थिति बिगड़ सकती है। कुसंगति से हानि होगी। किसी भी व्यक्ति के उकसाने में न आएं। धैर्यशीलता में कमी होगी। कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय लेने में जल्दबाजी न करें। धनार्जन होगा।


मिथुन-स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। कोई बुरी सूचना मिल सकती है। प्रसन्नता में कमी रहेगी। शत्रुता में वृद्धि होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। कारोबारी लाभ में वृद्धि के योग हैं। प्रमाद न करें।


कर्क-शत्रुभय रहेगा। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। शारीरिक कष्ट से बाधा संभव है। सुख के साधन जुटेंगे। अच्‍छे समाचार मिल सकते हैं। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। मित्रों तथा संबंधियों की सहायता करने का अवसर प्राप्त होगा। आय बढ़ेगी।


सिंह-शत्रु परास्त होंगे। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। कोर्ट व कचहरी, सरकारी दफ्तरों में रुका कार्य पूर्ण अनुकूल होगा। प्रसन्नता तथा संतुष्टि रहेंगे। चोट व रोग से बचें। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। पूजा-पाठ में मन लगेगा। साधु-संत का आशीर्वाद मिल सकता है। व्यापार ठीक चलेगा।


कन्या-कुसंगति से हानि होगी। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। किसी व्यक्ति से अकारण विवाद हो सकता है। शांति बनाए रखें। पारिवारिक चिंता रहेगी। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। किसी भी महत्वपूर्ण निर्णय में जल्दबाजी न करें।


तुला-किसी प्रभावशाली प्रबुद्ध व्यक्ति से मार्गदर्शन व सहयोग प्राप्त होगा। धनलाभ के अवसर बार-बार प्राप्त होंगे। थकान व कमजोरी रह सकती है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार ठीक चलेगा।


वृश्चिक-शत्रुओं का पराभव होगा। सुख के साधन जुटेंगे। स्थायी संपत्ति में वृद्धि हो सकती है। कोई कारोबारी बड़ा सौदा बड़ा लाभ दे सकता है। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। नौकरी में उन्नति होगी। लाभ में वृद्धि होगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। जल्दबाजी बिलकुल न करें।


धनु-दांपत्य जीवन में खुशहाली रहेगी। किसी आनंदोत्सव में भाग लेने का अवसर प्राप्त होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। मनपसंद भोजन का आनंद प्राप्त होगा। विद्यार्थी वर्ग को पठन-पाठन व लेखन इत्या‍दि के कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी।


मकर-चोट व दुर्घटना से शारीरिक हानि संभव है। किसी भी व्यक्ति के उकसाने में न आएं। दु:खद समाचार मिल सकता है। नए संबंध बनाने से पहले वि‍चार कर लें। मन में काम के प्रति दुविधा रहेगी। गलतफहमी के कारण विवाद संभव है। आय में निश्चितता रहेगी। जोखिम न लें।


कुंभ-जल्दबाजी में कोई कार्य न करें। विवाद संभव है। नौकरी में नई जिम्मेदारी प्राप्त हो सकती है। प्रयास सफल रहेंगे। सामाजिक कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी। मान-सम्मान प्राप्त होगा। ऐश्वर्य के साधनों की प्राप्ति संभव है। व्यापार-व्यवसाय मनोनुकूल चलेगा।


मीन-दूर से शुभ समाचार प्राप्त होंगे। घर में कोई मांगलिक कार्य का आयोजन हो सकता है। अतिथियों का आगमन होगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। राजमान व यश में वृद्धि संभव है। व्यापार ठीक चलेगा।


दुनिया की दूसरी बड़ी 'थल-सेना'

भारतीय थलसेना, सेना की भूमि-आधारित दल की शाखा है और यह भारतीय सशस्त्र बल का सबसे बड़ा अंग है। भारत का राष्ट्रपति, थलसेना का प्रधान सेनापति होता है, और इसकी कमान भारतीय थलसेनाध्यक्ष के हाथों में होती है जो कि चार-सितारा जनरल स्तर के अधिकारी होते हैं। पांच-सितारा रैंक के साथ फील्ड मार्शल की रैंक भारतीय सेना में श्रेष्ठतम सम्मान की औपचारिक स्थिति है, आजतक मात्र दो अधिकारियों को इससे सम्मानित किया गया है। भारतीय सेना का उद्भव ईस्ट इण्डिया कम्पनी, जो कि ब्रिटिश भारतीय सेना के रूप में परिवर्तित हुई थी, और भारतीय राज्यों की सेना से हुआ, जो स्वतंत्रता के पश्चात राष्ट्रीय सेना के रूप में परिणत हुई। भारतीय सेना की टुकड़ी और रेजिमेंट का विविध इतिहास रहा हैं इसने दुनिया भर में कई लड़ाई और अभियानों में हिस्सा लिया है, तथा आजादी से पहले और बाद में बड़ी संख्या में युद्ध सम्मान अर्जित किये।


भारतीय सेना का प्राथमिक उद्देश्य राष्ट्रीय सुरक्षा और राष्ट्रवाद की एकता सुनिश्चित करना, राष्ट्र को बाहरी आक्रमण और आंतरिक खतरों से बचाव, और अपनी सीमाओं पर शांति और सुरक्षा को बनाए रखना हैं। यह प्राकृतिक आपदाओं और अन्य गड़बड़ी के दौरान मानवीय बचाव अभियान भी चलाते है, जैसे ऑपरेशन सूर्य आशा, और आंतरिक खतरों से निपटने के लिए सरकार द्वारा भी सहायता हेतु अनुरोध किया जा सकता है। यह भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना के साथ राष्ट्रीय शक्ति का एक प्रमुख अंग है। सेना अब तक पड़ोसी देश पाकिस्तान के साथ चार युद्धों तथा चीन के साथ एक युद्ध लड़ चुकी है। सेना द्वारा किए गए अन्य प्रमुख अभियानों में ऑपरेशन विजय, ऑपरेशन मेघदूत और ऑपरेशन कैक्टस शामिल हैं। संघर्षों के अलावा, सेना ने शांति के समय कई बड़े अभियानों, जैसे ऑपरेशन ब्रासस्टैक्स और युद्ध-अभ्यास शूरवीर का संचालन किया है। सेना ने कई देशो में संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशनों में एक सक्रिय प्रतिभागी भी रहा है जिनमे साइप्रस, लेबनान, कांगो, अंगोला, कंबोडिया, वियतनाम, नामीबिया, एल साल्वाडोर, लाइबेरिया, मोज़ाम्बिक और सोमालिया आदि सम्मलित हैं।


भारतीय सेना में एक सैन्य-दल (रेजिमेंट) प्रणाली है, लेकिन यह बुनियादी क्षेत्र गठन विभाजन के साथ संचालन और भौगोलिक रूप से सात कमान में विभाजित है। यह एक सर्व-स्वयंसेवी बल है और इसमें देश के सक्रिय रक्षा कर्मियों का 80% से अधिक हिस्सा है। यह 1,200,255 सक्रिय सैनिकों और 909,60 आरक्षित सैनिकों के साथ दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी स्थायी सेना है। सेना ने सैनिको के आधुनिकीकरण कार्यक्रम की शुरुआत की है, जिसे "फ्यूचरिस्टिक इन्फैंट्री सैनिक एक प्रणाली के रूप में" के नाम से जाना जाता है इसके साथ ही यह अपने बख़्तरबंद, तोपखाने और उड्डयन शाखाओं के लिए नए संसाधनों का संग्रह एवं सुधार भी कर रहा है।


गर्म वातावरण का निवासी तोता

तोता पक्षियों के सिटैसिफ़ॉर्मीस (Psittaci) गण के सिटैसिडी (Psittacidae) कुल का पक्षी है, जो गरम देशों का निवासी है। यह बहुत सुंदर पक्षी है और मनुष्यों की बोली की नकल बखूबी कर लेता है। यह सिलीबीज द्वीप से सालोमन द्वीप तक के क्षेत्र में फैला हुआ है। इसकी कई जातियाँ हैं। लेकिन इनमें हरा तोता (Ring Necked Parakett), जो अफ्रीका में गैंबिया के मुहाने (mouth of Gambia) से लेकर, लाल सागर होता हुआ भारत, बरमा और टेनासरिम (Tenasserim) तक फैला हुआ है, सबसे अधिक प्रसिद्ध है। यह हरे रंग का 10-12 इंच लंबा पक्षी है, जिसके गले पर लाल कंठा होता है। तोते को मनुष्यों ने संभवत: सबसे पहले पालतू किया और आज तक ये शौक के साधन बने हुए हैं। तोते के मुख्य निवास स्थान आस्ट्रेलिया और न्यूज़ीलैंड हैं, जहाँ के अनेक प्रकार के रंगीन तोते प्रति वर्ष पकड़कर विदेशों में भेजे जाते हैं। इनमें काकातुआ और मैकॉ (Macaw) आदि बड़े कद के सुंदर तथा रंगीन एवं बजरीका, रोज़ेला और काकाटील छोटे कद के होते हैं।


काकातुआ सफेद और मैकॉ नीले रंग का होता है। बजरीका नीले, पीले, हरे सभी रंग के चित्तीदार होते हैं, जो देखने में बहुत सुंदर लगते हैं। रोज़ेला भी कम सुंदर नहीं होता। इसका सिर लाल, सीना पीला और डैना तथा दुम नीली रहती है। काकाटील का शरीर ऊदा और सफेद तथा सिर पीला रहता है। हमारे देश में भी तोतों की परबत्ता, ढ़ेलहरा, टुइयाँ, मदनगोर आदि कई जातियाँ हैं, लेकिन ये सब प्राय: हरे रंग की होती हैं।


तोते झुंड में रहनेवाले पक्षी हैं, जिनके नर मादा एक जैसे होते हैं। इनकी उड़ान नीची और लहरदार, लेकिन तेज होती है। इनका मुख्य भोजन फल और तरकारी है, जिसे ये अपने पंजों से पकड़कर खाते रहते हैं। यह पक्षियों के लिये अनोखी बात है।तोते की बोली कड़ी और कर्कश होती है, लेकिन इनमें से कुछ सिखाए जाने पर मनुष्यों की बोली की हूबहू नकल कर लेते हैं। इसके लिये अफ्रीका का स्लेटी तोता (Psittorcu erithacus) सबसे प्रसिद्ध है।


तोता एकपत्नीव्रती पक्षी है। इसकी मादा पेड़ के कोटर या तनों में सुराख काटकर 1 से 12 तक सफेद अंडे देती है।


तोते की आवाज़:-यद्यपि तोता अत्यधिक लोकप्रिय पक्षी है, परंतु यह प्रसिद्धि है कि तोता आपने पालने वाले के प्रति भी बेवफा होता है। कहा जाता है कि तोता चाहे कितने दिनों का पालतू क्यों न हो, पर जब एक बार पिंजरे के बाहर निकल जाता है, तब वह फिर अपने पिंजरे या मालिक की तरफ देखता तक नहीं। इसी आधार पर यह मुहावरा बना है 'तोते की तरह आँखें फेरना या बदलना' अर्थात् बहुत बेमुरौवत होना। हालाँकि स्वाभाविक रूप से यह तोते की अत्यधिक स्वतंत्रताप्रियता का प्रमाण ही है। पूर्वोक्त अर्थ में ही 'तोता-चश्म' पद भी प्रचलित है, अर्थात् जिसकी आँखों में तोते की तरह लिहाज या संकोच का पूर्ण अभाव हो; बेवफा, बेमुरौवत।


सोयाबीन, दलहन नहीं तिलहन

सोयाबीन एक फसल है। यह दलहन के बजाय तिलहन की फसल मानी जाती है। सोयाबीन दलहन की फसल है शाकाहारी मनुष्यों के लिए इसको मांस भी कहा जाता है क्योंकि इसमें बहुत अधिक प्रोटीन होता है। इसका वानस्पतिक नाम गलीसईन मैक्स है।स्थ्य के लिए एक बहुउपयोगी खाद्य पदार्थ है। सोयाबीन एक महत्वपूर्ण खाद्य स्रोत है। इसके मुख्य घटक प्रोटीन, कार्बोहाइडेंट और वसा होते है। सोयाबीन में 38-40 प्रतिशत प्रोटीन, 22 प्रतिशत तेल, 21 प्रतिशत कार्बोहाइडेंट, 12 प्रतिशत नमी तथा 5 प्रतिशत भस्म होती है।


सोयाप्रोटीन के एमीगेमिनो अम्ल की संरचना पशु प्रोटीन के समकक्ष होती हैं। अतः मनुष्य के पोषण के लिए सोयाबीन उच्च गुणवत्ता युक्त प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत हैं। कार्बोहाइडेंट के रूप में आहार रेशा, शर्करा, रैफीनोस एवं स्टाकियोज होता है जो कि पेट में पाए जाने वाले सूक्ष्मजीवों के लिए लाभप्रद होता हैं। सोयाबीन तेल में लिनोलिक अम्ल एवं लिनालेनिक अम्ल प्रचुर मात्रा में होते हैं। ये अम्ल शरीर के लिए आवश्यक वसा अम्ल होते हैं। इसके अलावा सोयाबीन में आइसोफ्लावोन, लेसिथिन और फाइटोस्टेरॉल रूप में कुछ अन्य स्वास्थवर्धक उपयोगी घटक होते हैं।


सोयाबीन न केवल प्रोटीन का एक उत्कृष्ट स्त्रौत है बल्कि कई शारीरिक क्रियाओं को भी प्रभावित करता है। विभिन्न शोधकर्ताओं द्वारा सोया प्रोटीन का प्लाज्मा लिपिड एवं कोलेस्टेरॉल की मात्रा पर पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन किया गया है और यह पाया गया है कि सोया प्रोटीन मानव रक्त में कोलेस्टेरॉल की मात्रा कम करने में सहायक होता है। निर्दिष्ट स्वास्थ्य उपयोग के लिए सोया प्रोटीन संभवतः पहला सोयाबीन घटक है।


विश्व का 60% सोयाबीन अमेरिका में पैदा होता है। भारत मे सबसे अधिक सोयाबीन का उत्पादन मध्यप्रदेश करता है। मध्यप्रदेश में इंदौर में सोयाबीन रिसर्च सेंटर है।


सोयाबीन घटकों के निर्दिष्ट स्वास्थ्य कार्य
घटक निर्दिष्ट स्वास्थ्य कार्य,प्रोटीन कोलेस्ट्राल को कम करना, मोटापा कम करना, उम्र बढ़ने से रोकना, कैंसर रोधी,प्रोटीन हाइडोंलाइजेट षोषक, मोटापा कम करना, उच्च रक्त चाप से बचव,लेक्टिन प्रतिरक्षा क्रिया,टिंप्सिन इन्हीबिटर कैंसर रोधी
आहार फाइबर वसा को कम करना, पेट कैंसर रोधी
ऑलिगो-सैकराइड आंतों में पाए जाने वाले बिफीडो बैक्टीरिया के लिए लाभदायक,लिनोलिक एसिड आवश्यक फैटी एसिड, कोलेस्ट्राल को कम करना,लिनोलेनिक एसिड कोरोनरी हृदय रोग के जोखिम को कम करने में सहायक, एलर्जी रोधक,लेसिथिन वसा को कम करना, स्मृति में सहायक,स्टेरोल वसा को कम करना,टोकोफेरोल कोरोनरी हृदय रोग के जोखिम को कम करने में सहायक,एंटीऑक्सीडेंट गुण,विटामिन के थक्का रोधी, ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, कैंसर रोधी,विटामिन बी बेरीबेरी रोग रोधीी,फाईटेट कैंसर रोधी,
सैपोनिन वसा को कम करना, एंटीऑक्सीडेंट गुण
आइसोफ्लावॉन ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम, कैंसर रोधीी।


संकल्पमयी संसार की विशेषता

गतांक से...
 मेरे प्यारे, इस प्रकार का विचार हमारे प्रऻय: वैदिक साहित्य में आता रहा है। वैदिक साहित्य में भिन्न-भिन्न प्रकार की विवेचनाऐ, भिन्न-भिन्न के क्रियाकलाप उनके (पुरोहित के) मुखारविंद से उत्पन्न हो रहे हैं। वह पुरोहिताम भूवरणस्‍तये ,वेदाचार्य कहता है कि हमारे जीवन में यदि कोई उन्नति दे सकता है तो वह पुरोहित कहलाता है। भगवान मनु ने यही कहा कि राजा के राष्ट्र में पुरोहित होना चाहिए। उसका अपने में बड़ा महत्व माना गया है। देखो पुरोहितानाम भूतम ब्राह्मण लोकाम व्रणहे:, वह पुरोहित कहलाता है जो अपने राष्ट्र और समाज को उन्नत बनाता है। त्रेता के काल में मेरे पुत्रों महात्मा ब्रहमणेश मनु मानो, वस्तुम्‌ ब्रहे कृतम्, रघुकुल में रघुवंश मे पुरोहित की आवश्यकता रहती है और प्रत्येक राष्ट्र में पुरोहित की आवश्यकता रहती है। रघुकुल के जो पुरोहित थे, वशिष्ठ मुनि महाराज बेटा, पुरोहिताम ब्राह्मण ब्रहम: राजा को पराविद्या की शिक्षा देते हैं और राजा उसे अपने में ग्रहण कर लेता है। मेरे प्यारे, मुझे स्मारण आता रहता है त्रेता के काल में जब राम ने लंका को विजय करने के पश्चात अपने गृह में प्रवेश किया। तब उन्होंने वास किया और वास करने के पश्चात अपनी स्थली पर विद्यमान हो गए। विद्यमान होकर के नाना ऋषि-मुनियों को निमंत्रित किया गया और निमंत्रित करने के पश्चात भरत अपना राष्ट्र का अधिकार अपना कर्तव्य जान करके राम को प्रदान करना चाहते थे। उस राष्ट्रीय धरोहर को राम को प्रदान करना चाहते थे। बेटा राम से प्रार्थना की प्रभु आइए अपने राष्ट्र को अपनाइए। मानो इस राष्ट्र का मुझे कोई अधिकार नहीं है। क्योंकि मैं इसका अधिकारी नहीं हूं। राम बोले अमृताम ब्राह्म: इसको तुम ही भोगो मुझे नहीं चाहिए। उन्होंने कहा नहीं मैं नहीं चाहता हूं। प्रभु मैं आपको समर्पित करना चाहता हूं। राष्ट्र स्थली को अपनाइए। हे राम। भरत से कहा सब को निमंत्रित किया जाए। राष्ट्र में जितने अधिकारी है और ऋषि-मुनियों का सब का आगमन होना चाहिए। बेटा सब को निमंत्रित किया और निमंत्रित करने के पश्चात उस राज्यसभा में नाना ॠषिवर नाना विज्ञानवेता मानव सर्वत्र राष्ट्र निमंत्रण के कथन अनुसार अयोध्या में उनका आगमन हुआ और बेटा अगले दिवस प्रातकाल सब आसनों पर विराजमान हो गए। राम ने उपस्थित होकर कहा, ऋषि-मुनियों आज मुझे अपना राष्ट्र देना चाहते हैं परंतु मैं इस राष्ट्र को अपनाना नहीं चाहता। उन्होंने कहा क्यों नहीं चाहते? उन्होंने कहा मैं तपस्या करने जाऊंगा। उस समय महाराजा शिव ने कहा कि है राम आप तपस्या करके आप अपनी क्रियाओं से निवृत्त होने के लिए भी तपस्या आपकी ज्‍यौं की त्‍यौं है। राम ने कहा, प्रभु तुम्हारा वाक्य यथार्थ है। महाराजा शिव के बहुत प्रार्थना करने के पश्चात,  जब महात्मा पुरोहितों से यह कह रहा है। पुरोहित जनों देखो मैं राष्ट्र को नहीं चाहता। तप में जाना चाहता हूं। महात्मा वशिष्ठ मुनि महाराज ने ब्रह्मा से कहा, हे राम, तुम्हें राष्ट्र तो भोगना ही है परंतु त्याग पूर्वक इस राष्ट्र को भोगने वाले बनो। राम ने कहा कि प्रभु मैं इस राष्ट्र को नहीं चाहता जब तक अपने रजोगुण और तमोगुण हमारे शरीर में व्याप्त है। उसे नष्ट करना चाहता हूं। मैं तपस्या में परिणत होना चाहता हूं। उस समय विशेषकर राजा और महात्मा, जन, मानव मौन हो गए और मौन होकर के यह विचार में लगे कि इसको कैसे कार्य रोक दिया जाए। जो राम राजा बने और भरत तपस्वी बन जाए। देखो राष्ट्र का पालन चलता रहे और दोनों तपस्या में परिणत हो जाए।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


हिंदी दैनिक


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


October 09, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-66 (साल-01)
2. बुधवार, 09 अक्टूबर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,शुक्‍लपक्ष,तिथि- एकादशी,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:16,सूर्यास्त 06:05
5. न्‍यूनतम तापमान -22 डी.सै.,अधिकतम-32+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी,नमी बनी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...