रविवार, 13 फ़रवरी 2022

एसडीएम ने जागरूकता रैली का शुभारंभ किया: यूपी

एसडीएम ने जागरूकता रैली का शुभारंभ किया: यूपी    

कुशीनगर। बुद्ध इंटर कालेज कुशीनगर से जागरूकता रैली निकाली गई। एडीएम देवीदयाल वर्मा व एसडीएम वरुण कुमार पांडेय ने हरी झंडी दिखाकर जागरूकता रैली का शुभारंभ किया। रैली बुद्ध मंदिर मार्ग होते हुए रामाभार के बुद्धाघाट पर संगोष्ठी में बदल गई। एडीएम ने कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए अधिकाधिक मतदान जरूरी है।
उन्होंने पूरे परिवार के साथ बूथ पर जाकर मतदान करने की अपील की। एसडीएम ने कहा कि हम इतना अधिक मतदान करें ताकि हमारी भावी पीढ़ी हमपर अभिमान करे। यहां रंगोली प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। स्थान प्राप्त रंगोली को पुरस्कृत किया गया। नायब तहसीलदार आशीष गुप्त,प्रधानाचार्य इम्तियाज अहमद खां,कृष्ण कुमार त्रिपाठी, ले.वेदप्रकाश मिश्र,इओ प्रेमशंकर गुप्त,राजेश सिंह,रोटरी क्लब के अध्यक्ष डॉ एमएच खान,सचिव वाहिद अली,सभासद राम अधार यादव,केशव सिंह,नीलेश रंजन राव,छात्र,एनसीसी कैडेट्स आदि उपस्थित रहे।

गाजियाबाद तक पहुंची 'हिजाब' मामलें की आग

गाजियाबाद तक पहुंची 'हिजाब' मामलें की आग     

अश्वनी उपाध्याय            
गाजियाबाद। कर्नाटक से शुरू हुई हिजाब मामलें की आग अब गाजियाबाद तक पहुंच गई है। ट्रांस हिंडन क्षेत्र में आज खोड़ा कॉलोनी की महिलाओं ने सड़क पर उतर कर हंगामा किया। पुलिस ने बिना की इजाजत के निकाले जा रहे इस जुलूस को तुरंत रोक दिया। काफी देर तक चली महिलाओं की ड्रामेबाजी के बाद पुलिस ने लगभग 15 महिलाओं के खिलाफ माहौल बिगाड़ने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर वैधानिक कार्यवाही शुरू कर दी है।

मामला खोड़ा कॉलोनी के नवनीत विहार विहार की महिलाओं के प्रदर्शन से शुरू हुआ। यहाँ महिलाएं, हिजाब पहनकर वी वांट जस्टिस और हमारा हिजाब मिलना चाहिए जैसे नारे लगा रहीं थीं। सूचना मिलने पर मौके पर पुलिस पहुंची तो महिलाओं ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की शुरू कर दी। ऐसा लग रहा था मानो महिलाएं पूर्व नियोजित साजिश के तहत किसी के उकसावे में आकर हंगामा कर रहीं थी। जिसका एकमात्र मकसद इलाके में अशांति फैलाना था। बहरहाल, स्थानीय पुलिस ने घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद मामला शांत कराया।

एसपी द्वितीय ज्ञानेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि खोड़ा कॉलोनी के नवनीत विहार में कुछ महिलाओं के द्वारा हिजाब को लेकर प्रदर्शन किया गया। मौके पर पहुंची पुलिस के साथ हुई अभद्रता की गई और कई घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद महिलाओं को शांत कर वापस भेजा। उन्होंने बताया कि फिलहाल पुलिस की तरफ से करीब डेढ़ दर्जन महिलाओं के खिलाफ मामला दर्ज कर वैधानिक कार्रवाई शुरू कर दी गई है। फिलहाल इलाके में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। किसी भी हाल में माहौल खराब नहीं होने दिया जाएगा और फिलहाल वीडियोग्राफी के जरिए महिलाओं की पहचान की जा रही है। पहचान होने के बाद उनके खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

14 फरवरी को खुलेंगे नर्सरी से 12वीं तक के स्कूल

14 फरवरी को खुलेंगे नर्सरी से 12वीं तक के स्कूल     

अश्वनी उपाध्याय       

रांची एयरपोर्ट पर पहुंचे, लालू का जोरदार स्वागत

रांची एयरपोर्ट पर पहुंचे, लालू का जोरदार स्वागत      
अविनाश श्रीवास्तव        
रांची। देश के बहुचर्चित चारा घोटाले से जुड़े डोरंडा ट्रेजरी के मामले में कोर्ट का फैसला आगामी 15 फरवरी को आने वाला है। इसमें आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव सहित कुल 99 आरोपियों को सीबीआई के विशेष जज एसके शशि की अदालत में सशरीर उपस्थित होने का आदेश दिया गया है।
सुनवाई से दो दिन पहले रविवार को लालू प्रसाद यादव रांची एयरपोर्ट पहुंचे। एयरपोर्ट के बाहर लालू के समर्थकों का हुजूम उमड़ा हुआ था। अपने नेता के स्वागत के लिए कार्यकर्ताओं की भीड़ ढोल, नगाड़े और गाजे-बाजे के साथ पहुंची थी। एयरपोर्ट पर उतरने के बाद लालू का जोरदार स्वागत हुआ। इसके बाद वह समर्थकों के काफिले के साथ अपनी गाड़ी में बैठकर स्टेट गेस्ट हाउस के लिए रवाना हो गए। गेस्ट हाउस पहुंचने पर भी पार्टी के नेताओं ने पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया।

बसपा द्वारा नुक्कड़ सभा का आयोजन: कौशाम्बी

बसपा द्वारा नुक्कड़ सभा का आयोजन: कौशाम्बी         

सुशील केसरवानी       
कौशाम्बी। बहुजन समाज पार्टी द्वारा मंझनपुर विधान सभा के कई गांवों में रविवार को नुक्कड़ सभा का आयोजन किया गया। इस दौरान पार्टी जिलाध्यक्ष संतोष गौतम के अलावा बसपा नेत्री मंझनपुर की प्रत्याशी डॉ. नीतू कनौजिया ने सभा के माध्यम से मौजूद जनता को बसपा की नीतियों के बारे में विस्तार से बताया। वहीं नुक्कड सभा में मौजूद महिलाएं व लोगों ने प्रत्याशी नीतू कनौजिया को इस बार विधानसभा पहुंचाने के लिए संकल्प लिया।
मंझनपुर विधान सभा के कनैली, रक्सराई सहित कई गांवों में आयोजित बसपा की नुक्कड सभा में बसपा पदाधिकारियों ने बसपा शासन काल की याद दिलाते हुए कहा कि आज दलित, अल्पसंख्यक व पिछडा समाज अपने हक और अधिकार के लिए संघर्ष करता देखा जा रहा है। 
इसके बाद भी उसे उसका हक नहीं मिल रहा। वहीं पार्टी जिलाध्यक्ष संतोष गौतम ने कहा कि दलित, पिछडा, अल्पसंख्यक इस बार 2022 के विस चुनाव में अपनी भूल को दोहराना नहीं चाह रहा है। बसपा नेता महेंद्र गौतम ने कहा कि मंझनपुर सीट से डॉ.नीतू कनौजिया को जिताकर मायावती को प्रदेश का पांचवी बार सीएम बनाएं इस दौरान बसपा प्रत्याशी नीतू कनौजिया ने विपक्षियों पर जमकर निशाना साधा उन्होंने कहा कि जनता ने जिस तरह से पांच वर्ष काटा है। अब वह दोबारा यह गलती न कर प्रदेश में मायावती को पांचवी बार मुख्यमंत्री बनाएगी और जब प्रदेश की मुखिया बहन जी होंगी तो दलित, पिछडों, अल्पसंख्यकों का छीना गया अधिकार वापस होगा। इस मौके पर शैलेन्द्र गौतम, बंशीलाल चौधरी, शंकर दयाल पांडेय, पवन दुबे, पिंटू सरोज, वीरेंद्र सरोज, घनश्याम गौतम, देवीसिंह पटेल, रामू सरोज, मानिक सरोज, रत्नेश, पिंटू चौधरी, राजेंद्र कुमार सहित गांव के हजारो लोग मौजूद रहे।

यूके: 24 घंटे में 6 संक्रमितों की मौंत, वायरस बढ़ा

यूके: 24 घंटे में 6 संक्रमितों की मौंत, वायरस बढ़ा      

पंकज कपूर          

देहरादून। उत्तराखंड में वैश्विक महामारी कोविड-19 का प्रकोप बना हुआ है। पिछले 24 घंटे के दौरान प्रदेश के सभी 13 जनपदों में कोरोना वायरस के कुल 286 नए मामलें सामने आए है। वही, प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 6 कोरोना संक्रमित मरीजों की उपचार के दौरान मौत हुई है। रविवार को उत्तराखंड स्टेट कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार राज्य में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के कुल 286 नए मामले सामने आए है। जबकि राज्य में 580 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए वहीं विभिन्न अस्पतालों में भर्ती 06 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत भी हुई। वही दैनिक पॉजिटिविटी रेट की बात करें तो 01.65 फ़ीसदी पर पहुंच गई है।

देहरादून जिले से 124 ,हरिद्वार से 30, नैनीताल जिले से 15, उधमसिंह नगर से 03, पौडी से 27, टिहरी से 13, चंपावत से 17, पिथौरागढ़ से 20, अल्मोड़ा 03, बागेश्वर से 02, चमोली से 42, रुद्रप्रयाग से 02, उत्तरकाशी से 05 सैंपल पॉजिटिव मिले हैं। जारी आंकड़ों के मुताबिक राज्य में 1 जनवरी 2,022 से अब तक कोरोना से संक्रमित कुल 88,520 मरीजों में से 79,297 मरीज ठीक होकर अस्पताल से डिस्चार्ज हो चुके हैं। 3,080 संक्रमित राज्य से बाहर जा चुके हैं। 233 संक्रमित की मौत हो चुकी है। राज्य में वर्तमान में कोविड-19 के एक्टिव केस 6,212 है। इधर रिकवरी रेट 89.58 प्रतिशत पहुंच गया है।

'धनशोधन' मामलें में प्रबंध भागीदार को अरेस्ट किया

'धनशोधन' मामलें में प्रबंध भागीदार को अरेस्ट किया    

अकांशु उपाध्याय        

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 67 करोड़ रुपए की कथित बैंक ऋण धोखाधड़ी से जुड़े धनशोधन के एक मामलें में हैदराबाद की एक आभूषण कंपनी के प्रबंध भागीदार को गिरफ्तार किया है। निदेशालय ने रविवार को यह जानकारी दी। संजय अग्रवाल को 11 फरवरी को हैदराबाद में एक विशेष धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) अदालत में पेश किया गया और अदालत ने उसे 15 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। अग्रवाल ‘घनश्यामदास जेम्स एंड ज्वेल्स’, हैदराबाद में एक प्रबंध भागीदार है। यह कंपनी सोने का थोक व्यापार करती है।

निदेशालय ने शुल्क-मुक्त निर्यात के लिए निर्धारित सोने का कथित रूप से घरेलू बाजार में व्यापार करने से जुड़े धनशोधन के एक अन्य मामले में भी अग्रवाल को गिरफ्तार किया था, जिसके बाद से वह पहले से ही कोलकाता की जेल में बंद है। एजेंसी ने एक बयान में बताया कि ताजा मामला ”ऋण धोखाधड़ी का मामला है, जिसमें हैदराबाद की भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) को 67 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ था। जांच में पाया गया, ”2010-2011 में, अग्रवाल ने फर्जी और जाली बैंक गारंटी और पीएनबी द्वारा कथित तौर पर जारी किए गए कवर पत्रों को दिखाकर एसबीआई से सोने के बुलियन खरीदे और फिर इन्हें स्थानीय बाजार में विभिन्न आभूषण विक्रेताओं और छोटे कारोबारियों को नकद बेच दिया।

'5जी नीलामी' के लिए सिफारिशें जमा करेगा विभाग

'5जी नीलामी' के लिए सिफारिशें जमा करेगा विभाग   

अकांशु उपाध्याय     
नई दिल्ली। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण  यदि 5जी स्पेक्ट्रम  की नीलामी प्रक्रिया के संबंध में नियमों पर अपनी सिफारिशें इस साल मार्च तक दे देता है तो इस बहुप्रतीक्षित प्रक्रिया के मई में होने की संभावना है। दूरसंचार विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। दूरसंचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि ट्राई ने सूचित किया है कि वह 5जी नीलामी के लिए मार्च तक अपनी सिफारिशें जमा करेगा। 
दूरसंचार विभाग जल्द से जल्द नीलामी कराने के लिए अन्य प्रक्रियाएं पूरी कर रहा है। दूरसंचार सचिव के राजारमन ने से कहा, भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण ने संकेत दिया है कि वे इस साल के मार्च तक सिफारिशें भेज देंगे। उसके बाद इस बारे में निर्णय लेने में एक महीना लग जाएगा। सरकार ने पूर्व में स्पेक्ट्रम नीलामी पर ट्राई से सिफारिशें प्राप्त होने के बाद निविदाओं का चरण शुरू करने के लिए 60 से 120 दिन का समय लिया है। 
राजारमन ने कहा कि दूरसंचार विभाग को ट्राई की सिफारिशें प्राप्त होने के दिन से नीलामी शुरू करने में दो महीने लगेंगे। विभाग के अनुसार, 5जी से डेटा 4जी सेवा की तुलना में 10 गुना तेज रफ्तार से डाउनलोड हो सकेगा। प्रक्रिया के अनुसार, विभाग स्पेक्ट्रम के मूल्य, इसे आवंटित करने की पद्धति, इसके ब्लॉक के आकार, भुगतान के तौर-तरीकों पर ट्राई से सिफारिशें मांगता है।
ट्राई उद्योग जगत और अन्य हितधारकों से परामर्श करता है और दूरसंचार विभाग को सिफारिशें भेजता है। मौजूदा प्रक्रिया के अनुसार, दूरसंचार विभाग में निर्णय लेने वाली शीर्ष इकाई ‘डिजिटल संचार आयोग’ (पूर्ववर्ती दूरसंचार आयोग) है। जो ट्राई की सिफारिशों पर फैसले लेता है और फिर इसे अंतिम मंजूरी के लिए मंत्रिमंडल में भेजा जाता है। राजारमन ने कहा कि दूरसंचार विभाग ने आगामी नीलामी के लिए नीलामीकर्ता के रूप में एमएसटीसी को चुना है।

'बेरोजगारी' के मुद्दे को लेकर केंद्र पर निशाना साधा

'बेरोजगारी' के मुद्दे को लेकर केंद्र पर निशाना साधा   

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बढ़ती बेरोजगारी के मुद्दे पर रविवार को केंद्र पर निशाना साधा और कहा कि मौजूदा सरकार के कार्यकाल में इस कारण आत्महत्या की घटनाओं में 60 फीसदी वृद्धि हुई है। सुश्री वाड्रा ने अपने ट्वीट में कहा , “ पिछले छह वर्षों में बेरोजगारी के कारण आत्महत्या की घटनाओं में 60 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। 

वर्ष 2018 और 2020 के बीच बेरोजगारी की वजह से प्रतिदिन औसतन 12 लोगों ने आत्महत्या की। उन्होंने प्रधानमंत्री से सवाल किया , आप कब तक असली मुद्दों को दरकिनार करेंगे। बेराजगार युवा परेशानी में हैं।असली मुद्दे पर बात करें। कांग्रेस पार्टी केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा पर आरोप लगाती रही है कि वह देश में बढ़ती बेरोजगारी के मुद्दे को हल करने में विफल रही है।

76 सपाइयों ने 'भाजपा' की सदस्यता ग्रहण की

76 सपाइयों ने 'भाजपा' की सदस्यता ग्रहण की   

संदीप मिश्र     

अमेठी। उत्तर प्रदेश में 18वीं विधानसभा के गठन के लिए हो रहे चुनाव के ऐन वक्त अमेठी में समाजवादी पार्टी को भारतीय जनता पार्टी ने करारा झटका दिया है। एक साथ 76 सपाइयों ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण करते हुए भगवा चोला धारण कर लिया है। पार्टी में शामिल हुए यह सभी लोग अब बीजेपी प्रत्याशी के लिए जनता के बीच जाकर वोट मांगेंगे। दरअसल, अमेठी विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ संजय सिंह की ओर से कस्बा स्थित दद्दन सदन कार्यालय में भाजपा का सदस्यता अभियान चलाया गया था। जिसमें अमेठी विधानसभा क्षेत्र के कई बड़े चेहरों ने अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ पहुंचकर भाजपा प्रत्याशी डॉक्टर संजय सिंह के नेतृत्व को समर्थन देते हुए बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर ली है। 

इस सदस्यता अभियान में समाजवादी पार्टी के पूर्व जिला उपाध्यक्ष धीरेंद्र सिंह ने अपने 76 समर्थकों के साथ भाजपा की सदस्यता ग्रहण करते हुए भगवा चोला धारण कर लिया है। इसके अलावा भादर ब्लाक के सपा नेता एवं जिला कार्यकारिणी के सदस्य महेंद्र प्रताप सिंह ने भी दो दर्जन लोगों के साथ पहुंचकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है।


पाकिस्तान: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज

पाकिस्तान: पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज  


सुनील श्रीवास्तव      

इस्लामाबाद। पाकिस्तान वित्तीय संकट से जूझ रहा हैं। पाकिस्तान में महंगाई लोगों की कमर तोड़ रहीं है। इस बीच इतिहास में पहली बार पेट्रोल की कीमत 150 रुपए प्रति लीटर पहुंचने की उम्मीद है। बता दें कि 1 फरवरी से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी का दौर जारी है। जिसके बाद पेट्रोल के दाम 147 रुपए के पार पहुंच गया है। यही स्थिति रहा तो इसी महीने दाम 150 रुपए के पार हो जाएगा। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर इमरान सरकार अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की बढ़ती कीमतों का बोझ उपभोक्ताओं पर डालने का फैसला करती है, तो संभावना जताई जा रही है कि 16 फरवरी से पेट्रोल और डीजल की कीमतों में 13 रुपये और 18 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हो सकती है।

जानकारी के अनुसार, वर्तमान में पाकिस्तान में पेट्रोल 147.83 रुपये प्रति लीटर, हाई-स्पीड डीजल  144.62 रुपये और हल्का डीजल तेल 114.54 रुपये प्रति लीटर मिल रहा है। दूसरी ओर वित्त मंत्री भी लोगों को महंगाई को लेकर अलर्ट कर रहे हैं। मंत्री ने दाम बढ़ने को लेकर संकेत दिए हैं। कहा जा रहा है कि “अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार में कीमतों में बढ़ोतरी देखी जाती है, तो सरकार को लोगों पर बोझ डालना होगा।” बढ़ती महंगाई के इस दौर में अब विपक्षी गठबंधन “मुद्रास्फीति विरोधी” का आयोजन करने वाली है। बढ़ती महंगाई के विरोध में यह मार्च निकाला जाएगा।


सास-ससुर को गोलियों से भूनकर उतारा मौंत के घाट

सास-ससुर को गोलियों से भूनकर उतारा मौंत के घाट   

संदीप मिश्र     

कासगंज। पत्नी को नहीं भेजने के विवाद में सास-ससुर को गोलियों से भून कर दामाद ने दिनदहाड़े मौत के घाट उतार दिया और आराम के साथ मौके से फरार हो गया। दोहरे हत्याकांड की जानकारी मिलते ही पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। पुलिस अधीक्षक ने पुलिस की तीन टीमों का गठन करते हुए आरोपी की जल्द से जल्द गिरफ्तारी का दावा किया है।

बताया जा रहा है कि कासगंज जनपद की सोरों कोतवाली क्षेत्र के अमित उपाध्याय का अपनी सास सुमन तिवारी एवं ससुर गोपाल तिवारी के साथ पारिवारिक मामले को लेकर विवाद चल रहा था। रविवार को हथियारों से लैस होकर पहुंचे दामाद ने ससुराल में अपने सास-ससुर को दिनदहाड़े गोलियों से भून दिया और मौके से फरार हो गया। दिनदहाड़े गोलियां चलने की आवाज को सुनकर गांव में दहशत पसर गई। आरोपी के मौके से भागने के बाद मौके पर पहुंचे लोगों ने गोली लगी सास और ससुर को उठाया, लेकिन सास सुमन तिवारी की मौके पर ही मौत हो चुकी थी। आनन-फानन में ससुर गोपाल तिवारी को इलाज के लिए अस्पताल में ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी भी मौत हो गई। 

दोहरे हत्याकांड की जानकारी मिलते ही पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। वारदात की जानकारी मिलते ही पुलिस फोर्स को साथ लेकर कोतवाल मौके पर पहुंचे और मृतकों के शव कब्जे में लेकर मामले की जांच पड़ताल शुरू की। उधर पुलिस अधीक्षक कासगंज रोहन प्रमोद बोत्रे ने दोहरे हत्याकांड के आरोपी की गिरफ्तारी के लिए एसओजी, सर्विलांस एवं स्थानीय पुलिस की तीन टीमें गठित करते हुए आरोपी की तत्काल गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं। घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि अमित उपाध्याय जनपद हाथरस के सिकंदराराऊ का रहने वाला है और 4 साल पहले ही उसकी शादी कासगंज की रमा के साथ हुई थी। आरोप है कि अमित उपाध्याय हमेशा शराब के नशे में धुत रहकर अपनी पत्नी के साथ मारपीट करता था। पति की आए दिन की मारपीट से तंग आई रमा 15 दिन पहले ही अपनी ससुराल से मायके चली आई थी। आज अमित उपाध्याय अपनी पत्नी को लेने के लिए ससुराल आया था और पत्नी को साथ ले जाने की जबरदस्ती करने पर जब सास ससुर ने आरोपी का विरोध किया तो उसने गोलियों से भूनकर दोनों की दिनदहाड़े हत्या कर दी।

मुंबई: अभिनेत्री माधुरी का डांस वीडियो वायरल हुआ

मुंबई: अभिनेत्री माधुरी का डांस वीडियो वायरल हुआ  


कविता गर्ग    

मुंबई। बॉलीवुड की ‘धक-धक’ गर्ल के नाम से मशहूर अभिनेत्री माधुरी दीक्षित आजकल खूब सुर्खियों में हैं। उन्हें टीवी पर तो अक्सर देखा जाता रहा है। लेकिन लेकिन अब वो वेब की दुनिया में भी नजर आने वाली हैं। वो जल्द ही संजय कपूर और मानव कौल के साथ ‘द फेम गेम’ सीरीज में नजर आने वाली हैं। माधुरी के पति श्रीराम नेने का हाल ही में बर्थडे था। जिसे माधुरी ने बड़े धूमधाम से मनाया। इस बर्थडे पार्टी में कई बॉलीवुड सेलेब्स भी शामिल हुए थे। इस बर्थडे पार्टी में माधुरी और उनके पति का डांस वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। 

इस वीडियो में माधुरी और डॉ श्रीराम नेन ’तम्मा तम्मा’ सॉन्ग पर जबरदस्त डांस किया। माधुरी के चेहरे पर खुशी दिखाई दे रही थी और उनके पति पूरे मस्ती के मूड में नजर आ रहे थे। इनदोनों की बर्थडे पार्टी की तस्वीर शेयर कर डायरेक्टर फराह खान ने उन्हें बर्थडे की शुभकामनाएं दी हैं और उनके इस बॉन्डिंग को कपल गोल बताया है। माधुरी दीक्षित के एक फैन इंस्टाग्राम अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट किया गया है। जिसमें ये माधुरी और उनके पति श्रीराम नेने डांस करते दिखाई दे रहे हैं। इस वीडियो पर लोगों को खूब प्रतिक्रिया भी आ रही है। माधुरी के पति के इस बर्थडे पार्टी में फराह खान, जेनेलिया डिसूजा, रितेश देशमुख, संजय कपूर और कई बॉलीवुड सेलेब्स शामिल हुए थे। इस वीडियो में माधुरी अपने पति के साथ ‘बद्रीनाथ की दुल्हनिया’ फिल्म के गाने ‘ तम्मा तम्मा’ पर डांस करते दिख रहे हैं। जो इस समय खूब वायरल हो रही है।

मशहूर डायरेक्टर फराह खान ने इस वीडियो को अपनी स्टोरी पर शेयर करते हुए लिखा कि जन्मदिन की बधाई राम, माधुरी दीक्षित को सीरियस कंपीटिशन दे रहे हैं। आगे उन्होंने हैशटैग में कपल गोल लिखा। शनिवार को माधुरी ने एक पोस्ट करके अपने पति को बर्थडे की बधाई दी थी। इसमें उन्होंने लिखा था कि मेरे पति, मेरे दोस्त, मेरे कॉन्फिडेंट, मेरे दिल और दुनिया के बेस्ट पिता को हैप्पी बर्थडे। आपको बता दें, कुछ ही दिन पहले माधुरी की आने वाली सीरीज ‘द फेम गेम’ का ट्रेलर रिलीज किया गया है। इसमें माधुरी लीड रोल में नजर आने वाली हैं इसमें उनके साथ संजय कपूर और मानव कौल भी दिखाई देंगे। ये नेटफ्लिक्स की ओरिजनल सीरीज है।माधुरी एक लंबे गैप के बाद फिर से फिल्म इंडस्ट्री में एक्टिव नजर आई है।

मिठाई की 2 दुकानों में लगीं आग, कोई हताहत नहीं

मिठाई की 2 दुकानों में लगीं आग, कोई हताहत नहीं   

अकांशु उपाध्याय       

नई दिल्ली। दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली के उत्तम नगर इलाके में रविवार को एक-दूसरे से सटी मिठाई की दो दुकानों में आग लग गई। जिसके बाद वहां फंसे तीन व्यक्तियों को बचाया गया। अग्निशमन सेवा के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आग को बुझा दिया गया है और घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है। दिल्ली अग्निशमन सेवा के महानिदेशक अतुल गर्ग ने बताया कि पूर्वाह्न करीब पौने ग्यारह बजे आग लगने के बारे में सूचना मिली और पांच दमकल गाड़ियां मौके पर भेजी गईं।

उन्होंने कहा कि, आग दो दुकानों में लगी थी। अंदर फंसे तीन व्यक्तियों को हमारी टीम ने बचाया। किसी के हताहत होने की खबर नहीं है और आग पौने बारह बजे तक बुझा दी गई। गर्ग ने कहा कि आग लगने की वजह का पता लगाया जा रहा है।

डाक विभाग के समावेशन संबंधी लक्ष्यों को मजबूती

डाक विभाग के समावेशन संबंधी लक्ष्यों को मजबूती   

अकांशु उपाध्याय    
नई दिल्ली। डाक विभाग के सचिव विनीत पांडेय ने कहा है कि बजट आवंटन से डाक विभाग के वित्तीय समावेशन संबंधी लक्ष्यों को मजबूती मिलेगी और खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राहकों के लिए बैंकिंग की सर्वोत्तम प्रथाओं को लागू किया जा सकेगा। बजट घोषणाओं के अनुसार, 2022 में सभी 1.5 लाख डाकघरों को कोर बैंकिंग प्रणाली से जोड़ा जाएगा, जिससे फाइनेंशियल इनक्लूजन, नेट बैंकिंग  मोबाइल बैंकिंग  एटीएम के जरिये खातों तक पहुंच संभव हो सकेगी। इस कदम से डाकघर खातों और बैंक खातों के बीच पैसा का ऑनलाइन ट्रांसफर भी हो सकेगा। इससे विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में किसानों और वरिष्ठ नागरिकों को काफी सुविधा मिलेगी।
डाक विभाग के लिए सकल बजटीय समर्थन वित्त वर्ष 2021-22 में 35,173.27 करोड़ रुपये (बजट अनुमान) के मुकाबले 2022-23 के लिए 36,395.89 करोड़ रुपये तय किया गया है। वित्त वर्ष 2022-23 के लिए शुद्ध बजटीय आवंटन 20,820 करोड़ रुपये है, जो 2021-22 में 16,528.22 करोड़ रुपये (बजट अनुमान) था।
 कहा, हमारे ज्यादातर लाभार्थी या हमारे ग्राहक दूसरी और तीसरी श्रेणी के क्षेत्रों से हैं। इनमें विशेष रूप से महिलाएं, किसान, कारीगर, वरिष्ठ नागरिक हैं। अब इन्हें वे सभी लाभ मिल सकेंगे, जिन्हें उद्योग में सर्वोत्तम माना जाता है। बैंकिंग उद्योग की सर्वोत्तम सुविधाएं अब डाकघर के ग्राहकों के लिए भी उपलब्ध होंगी।
पांडेय ने कहा कि डाकघर से अब पारंपरिक भूमिका के मुकाबले कहीं अधिक अपेक्षाएं हैं और डाक विभाग अपने डिजिटल और विशाल भौतिक नेटवर्क का पूरी तरह फायदा उठा रहा है।
उन्होंने कहा, इस बजट का लक्ष्य भी यही है। यह हमें इन उद्देश्यों को आगे बढ़ने के लिए एक आधार देता है और अब इसमें सभी प्रकार की सेवाओं को शामिल करना संभव है। जब आप वित्तीय समावेशन की बात करते हैं, तो डाकघर बचत एजेंसी के अलावा यह बीमा हो सकता है, प्रत्यक्ष हस्तांतरण जैसी अन्य चीजें भी हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि डाक विभाग विभिन्न प्रकार की वित्तीय सेवाओं के लिए खुद को तैयार कर रहा है।
डाक विभाग वर्तमान में मेल और पार्सल सेवाओं जैसी सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। डाकघर बचत योजनाएं मनी ऑर्डर  और भारतीय पोस्टल ऑर्डर  डाक जीवन बीमा और ग्रामीण डाक जीवन बीमा
इसकी अन्य सेवाओं में डाकघर पासपोर्ट सेवा केंद्र आधार नामांकन और अपडेशन सुविधा, रेलवे यात्री आरक्षण सुविधा, कॉमन सर्विस सेंटर उपयोगिता बिल भुगतान आदि शामिल हैं।

'राष्ट्रपति' ने रामानुजाचार्य प्रतिमा का अनावरण किया

'राष्ट्रपति' ने रामानुजाचार्य प्रतिमा का अनावरण किया   

तेलांगना। रविवार को राष्ट्रपति कोविंद हैदराबाद का दौरा किया। यहां वह ‘स्टैच्यू ऑफ इक्वालिटी’ परिसर के पास समाज सुधारक और 11वीं सदी के संत रामानुजाचार्य की स्वर्ण प्रतिमा का अनावरण किया। आयोजकों ने जानकारी दी कि कोविंद रविवार को अपराह्न साढ़े तीन बजे ‘जीवा’ आश्रम पहुंचे। इससे पहले यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच फरवरी को रामानुजाचार्य की 216 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया था। जिसे ‘स्टैच्यू ऑफ इक्वालिटी’ कहा जाता है।

राष्ट्रपति के साथ केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर भी हैदराबाद गए। राष्ट्रपति के दौरे को मद्देनजर राज्य सरकार ने अधिकारियों को सभी आवश्यक व्यवस्था करने का निर्देश दिया है। मुख्य सचिव सोमेश कुमार ने गुरुवार को बीआरकेआर भवन में विभिन्न विभागों के प्रमुखों के साथ बैठक की है। उन्होंने अधिकारियों से सड़कों की मरम्मत, उस मार्ग की बैरिकेडिंग करने के लिए कहा, जिससे राष्ट्रपति का काफिला गुजरेगा और यह सुनिश्चित करने को भी कहा कि सभी प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन किया जाए। मुख्य सचिव सोमेश कुमार ने कहा, राष्ट्रपति की हैदराबाद यात्रा को तेलंगाना सरकार की प्रतिष्ठा और दुनियाभर में हैदराबाद की पहचान को और बढ़ाने के अवसर के रूप में देखा जाना चाहिए। किसी भी तरह की कमी ना हो इसके लिए अधिकारियों को समन्वय से काम करने के निर्देश दिए गए हैं। राष्ट्रपति मंदिर का दौरा करने के बाद रामानुजाचार्य की प्रतिमा का अनावरण किया। फिर वह ‘स्टैच्यू ऑफ इक्वालिटी’ के दर्शन किया।

राष्ट्रपति ‘स्टैच्यू ऑफ इक्वालिटी’ भी देखने गए। इसे दुनिया की सबसे ऊंची धातु की बैठी हुई मूर्तियों में से एक कहा जाता है। यह प्रतिमा हैदराबाद के बाहरी इलाके में 45 एकड़ के परिसर में स्थित है। इसकी आधारशिला 2014 में रखी गई थी। इस प्रोजेक्ट की लागत 1,000 करोड़ रुपये रही है और यह पैसा दुनियाभर के श्रद्धालुओं से दान के तौर पर आया है। प्रतिमा का निर्माण एक आधार ‘भद्र वेदी’ पर किया गया है, जो 54 फीट लंबा है। स्टैच्यू ऑफ इक्वलिटी का दौरा करने वालों में केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, अमित शाह और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत शामिल हैं।

वित्त वर्ष में 8,000 करोड़ रुपयें की वसूली की उम्मीद

वित्त वर्ष में 8,000 करोड़ रुपयें की वसूली की उम्मीद   

अकांशु उपाध्याय    

नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक को 31 मार्च 2022 को खत्म होने वाले चालू वित्त वर्ष में राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण द्वारा समाधान वाले खातों सहित रिटन ऑफ अकाउंट्स से लगभग 8,000 करोड़ रुपये की वसूली की उम्मीद है। एसबीआई  ने दिसंबर 2021 को खत्म हुई तीसरी तिमाही के दौरान रिटन-ऑफ अकाउंट्स  से 1,500 करोड़ रुपये की वसूली की और वित्त वर्ष 2021-22 के पहले नौ महीनों अप्रैल-दिसंबर के दौरान कुल वसूली राशि 5,600 करोड़ रुपये रही। बैंक ने निवेशकों के साथ एक बातचीत में यह बात कही है। बैंक ने कहा कि कुल मिलाकर उसे चालू वित्त वर्ष में लगभग 8,000 करोड़ रुपये की वसूली की उम्मीद है। इसमें न्यायाधिकरण द्वारा हल किए गए मामलों से वसूल की गई राशि भी शामिल है। इसके चलते बैंक के फंसे हुए कर्ज में भी सुधार हुआ है और 31 दिसंबर 2021 के आखिर में उसका सकल एनपीए घटकर 4.5 फीसदी रह गया, जो सितंबर, 2021 के आखिर में 4.9 प्रतिशत था। शुद्ध एनपीए भी तिमाही आधार पर 1.52 फीसदी से गिरकर 1.34 फीसदी पर आ गया है।

एसबीआई के चेयरमैन दिनेश कुमार खारा ने कहा कि वित्त वर्ष 2021-22 की तीसरी तिमाही के आंकड़ों से पता चलता है कि बैंक के प्रदर्शन में लगातार सुधार हो रहा है। आपको बता दें कि दिसंबर तिमाही में एसबीआई के प्रॉफिट में सालाना आधार पर 62 फीसदी का उछाल दर्ज किया गया है। इस तिमाही में बैंक का नेट प्रॉफिट 8432 करोड़ रुपए रहा। दिसंबर 2020 तिमाही में बैंक का नेट प्रॉफिट 5196 करोड़ रुपए रहा था। बैंका प्रदर्शन ज्यादातर सर्वे के मुकाबले बेहतर रहा है। इस तिमाही में बैंक की इंट्रेस्ट इनकम में 4.41 फीसदी की तेजी दर्ज की गई है। यह आंकड़ा 69 हजार 678 करोड़ रुपए का रहा। दिसंबर 2020 में यह आंकड़ा 66 हजार 734 करोड़ रुपए था।

बैंक का नेट इंट्रेस्ट इनकम 6.48 फीसदी के उछाल के साथ 30 हजार 687 करोड़ रुपए रहा। एक साल पूर्व समान तिमाही में बैंक की नेट इंट्रेस्ट इनकम 28820 करोड़ रुपए थी। दिसंबर तिमाही के लिए बैंक का स्लीपेज 2334 करोड़ रुपए रहा। कोरोना के कारण पहले और दूसरे चरण के रिजॉल्यूशन प्लान के कारण बैंक का टोटल री-स्ट्रक्चरिंग 32 हजार 895 करोड़ रुपए रहा। डिपॉजिट की बात करें तो इसमें सालाना आधार पर 8.83 फीसदी की तेजी दर्ज की गई और यह 38 लाख 47 हजार 794 करोड़ रुपए रहा। एडवांस में सालाना आधार पर 8.47 फीसदी की तेजी दर्ज की गई और यह 26 लाख 64 हजार 602 करोड़ रुपए रहा।

तमिलनाडु के 12 मछुआरों को अरेस्ट किया: श्रीलंका

तमिलनाडु के 12 मछुआरों को अरेस्ट किया: श्रीलंका   

सुनील श्रीवास्तव       

कोलंबो। तमिलनाडु के 12 मछुआरों को उनकी दो नौकाओं से श्रीलंकाई नौसेना ने गिरफ्तार कर लिया है। रामेश्वरम मछुआरा संघ के अध्यक्ष एन देवदास ने बताया कि ये सभी मछुआरे शनिवार की रात कच्छदिवु और धनुषकोडी के बीच मछली पकड़ने गए थे। इसी दौरान श्रीलंकाई नौसेना के गश्ती दल ने पकड़ लिया है। इससे पहले भी 8 फरवरी को श्रीलंका की नौसेना ने तमिलनाडु के 16 मछुआरों को पकड़ लिया था। क्यू ब्रांच पुलिस के मुताबिक, सोमवार-मंगलवार को मध्यरात्रि दो बजे रामेश्वरम के दो मछुआरों और तीन नावों को श्रीलंकाई नौसेना ने पकड़ लिया। 

आपको बता दें कि कई बार इस तरह की घटनाएं सामने आ चुकी है। श्रीलंका की तरफ से इस तरह की कार्रवाई लगातार की जा रही है। तमिलनाडु सरकार ने भी एक बार केंद्र से मछुआरों को छुड़ाने के लिए श्रीलंका से बात करने का आग्रह किया था। श्रीलंका के पास कई भारतीय मछुआरे कैद हैं। भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सोमवार को नई दिल्ली में श्रीलंका के विदेश मंत्री जी एल पीरिस से मुलाकात की थी और द्वीप राष्ट्र को मजबूत करने के लिए आर्थिक निवेश पहल की संभावनाओं के साथ-साथ मछुआरों के मुद्दे पर चर्चा की थी। जयशंकर ने कहा था कि उन्होंने अपने श्रीलंकाई समकक्ष के साथ बातचीत की, जिसमें श्रीलंका की ऊर्जा सुरक्षा को बढ़ाने के लिए अतिरिक्त कदमों पर ध्यान केंद्रित किया गया। दोनों मंत्रियों ने आर्थिक सुधार के लिए अधिक पर्यटन के महत्व को लेकर भी बात की।

दोनों नेताओं के बीच कोलंबो की ऊर्जा सुरक्षा, द्विपक्षीय व्यापार एवं निवेश मजबूत करने और लगातार जारी मछुआरों के मुद्दे पर सकारात्मक बातचीत हुई। इस बीच मछुआरों के मुद्दे पर भी चर्चा हुई, दोनों देशों के बीच रिश्ते में यह मुद्दा लंबे समय से बना हुआ है। तीन दिनों की यात्रा के लिए पेइरिस पिछले रविवार को नई दिल्ली आए थे। मछुआरों के मुद्दे का उल्लेख करते हुए एस जयशंकर ने कहा कि इस बात पर सहमति बनी कि द्विपक्षीय तंत्र की जल्द से जल्द बैठक होनी चाहिए। वहीं श्रीलंकाई नौसेना द्वारा भारतीय मछुआरों की गिरफ्तारी के विरोध में विभिन्न मछुआरा संघों के नेता लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने मछुआरों की शीघ्र रिहाई की मांग की है।

इस्लाम धर्म में मानसिकता अभी भी कायम हैं: आरिफ

इस्लाम धर्म में मानसिकता अभी भी कायम हैं: आरिफ  


इकबाल अंसारी    

बेंगलुरु। हिजाब विवाद पर केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने रविवार को कहा कि अरब समाजों में ऐसे लोग थे। जो जन्म के तुरंत बाद अपनी बच्चियों को दफना देते थे। इस्लाम धर्म ने इसे समाप्त कर दिया। लेकिन वह मानसिकता अभी भी कायम है। पहले उन्होंने तीन तलाक का आविष्कार किया, फिर हिजाब और फिर मुस्लिम महिलाओं को प्रताड़ित रखने के लिए अन्य प्रकार की चीजों का आविष्कार किया। राज्यपाल ने आगे कहा कि भारत को यह मानने के लिए कहा जा रहा है कि हिजाब आंतरिक है। अगर हम उस तर्क को स्वीकार करते हैं, तो मुस्लिम लड़कियों को फिर से उनके घरों में धकेल दिया जाएगा क्योंकि अगर वे शिक्षा नहीं ले सकती हैं, तो उनकी शिक्षा में रुचि कम हो जाएगी। इससे पहले शनिवार को आरिफ मोहम्मद खान ने हिजाब विवाद को एक ‘साजिश’ करार दिया था और कहा था कि यह पसंद का मामला नहीं है, बल्कि सवाल है कि क्या कोई व्यक्ति किसी संस्थान के नियमों, ड्रेस कोड का पालन करेगा या नहीं। कर्नाटक में इस मुद्दे पर छिड़े विवाद के संबंध में कहा कि ‘कृपया इसे विवाद के रूप में न ले। 

यह एक साजिश है। खान ने कहा, ‘मुस्लिम लड़कियां हर जगह ‘‘बहुत अच्छा’’ कर रही हैं और इसलिए उन्हें प्रोत्साहन की जरूरत है। उन्हें नीचे धकेलने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, ‘यह (हिजाब पहनना) पसंद का सवाल नहीं है, बल्कि यह सवाल है कि अगर आप किसी संस्थान में शामिल हो रहे हैं तो क्या आप नियमों, अनुशासन और ड्रेस कोड का पालन करेंगे या नहीं। इससे एक दिन पहले केरल के राज्यपाल ने कहा था कि अगर इस्लाम के इतिहास पर गौर किया जाए तो महिलाओं के पर्दा करने से इनकार करने के उदाहरण रहे हैं। हालांकि, उन्होंने खुलकर अपनी राय जाहिर नहीं की लेकिन अपनी बात रखने के लिए एक युवा महिला की कहानी सुनाई, जो पैंगबर की रिश्तेदार बताई जाती है। खान ने पत्रकारों से कहा था, ‘मैं आपको एक बात बताऊंगा। एक युवा लड़की, जो पैगंबर के घर में पली-बढ़ी थी। वह पैगंबर की पत्नी की रिश्तेदार थीं। वह काफी सुंदर थी। इतिहास यही कहता है। इसे पढ़िए। कहानी के हवाले से उन्होंने कहा कि मध्यकाल में जब उस महिला का पति कूफा का गवर्नर था तो उसे हिजाब न पहनने के लिए फटकार लगायी गई थी। उसने तब कहा था कि अल्लाह ने उसे खूबसूरत बनाया और अल्लाह ने उस पर खूबसूरती की मुहर लगा दी थी।

खान ने कहा, ‘उसने कहा कि मैं चाहती हूं कि लोग मेरी सुंदरता देखे और मेरी सुदंरता में अल्लाह का रहम देख। और अल्लाह का शुक्रगुजार रहे। इस्लाम की पहली पीढ़ी की महिलाओं की यह सोच थी। मैं यही कहना चाहता हूं। बता दें कि पिछले दिनों कर्नाटक के उडुपी में सरकारी महाविद्यालय में हिजाब पहनकर आई छात्रों को कक्षाओं में प्रवेश नहीं देने से विवाद शुरू हुआ था। मुस्लिम छात्राओं ने इसका विरोध किया। उन्होंने इसे धार्मिक स्‍वतंत्रता करार दिया। इसके बाद हिजाब के विरोध में कुछ बच्चों ने भगवा गमछे या शॉल पहनने शुरू कर दिया। इससे विवाद और बढ़ गया। मामला हाईकोर्ट तक पहुंच गया है। इस मामले में सियासत भी लगातार जारी है।

कोरोना की रफ्तार को लेकर डब्ल्यूएचओ की चेतावनी

कोरोना की रफ्तार को लेकर डब्ल्यूएचओ की चेतावनी  

अखिलेश पांडेय       
वाशिंगटन डीसी। दुनिया भर में कोरोना वायरस की धीमी होती रफ्तार के साथ अब ये चर्चा भी होने लगी है कि शायद हम इस महामारी के अंत की ओर बढ़ रहे हैं। कुछ लोग ओमिक्रॉन के माइल्ड संक्रमण को इसकी वजह मान रहे हैं। लेकिन विश्व स्वास्थ्य संगठन की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामीनाथन ने इसे लेकर बड़ी चेतावनी दी है। स्वामीनाथन ने ब्लूमबर्ग से बातचीत में कहा है कि महामारी के खत्म होने की अफवाहों पर भरोसा करना हमारी बेवकूफी होगी।
जवाब: इसका जवाब फिलहाल किसी के पास नहीं है। महामारी खत्म होने की अफवाहों पर भरोसा करके सतर्क रहना छोड़ देना हमारी बेवकूफी होगी। कोरोना का नया वैरिएंट कभी भी, कहीं भी ईजाद हो सकता है और हम फिर से उसी स्थिति में लौट सकते हैं। इसलिए अब भी सावधानी बरतने की जरूरत है। उम्मीद है कि 2022 के अंत तक हम बेहतर स्थिति में आ जाएंगे।
जवाब: इससे मुझे बहुत हैरानी हुई। महामारी के दौरान वैज्ञानिकों और विज्ञान पर हमले देखकर मुझे बहुत निराशा हुई। हमें लोगों को विज्ञान और स्वास्थ्य के विषयों पर जागरूक करने की जरूरत है। युवाओं को ऐसी शिक्षा देनी चाहिए, जिससे वो हर जानकारी पर तर्क के साथ सवाल उठा सकें।
सवाल: अमीर देशों में वैक्सीन की एक से ज्यादा डोज मिल रही हैं, लेकिन गरीब देश इस मामले में स्ट्रगल कर रहे हैं। क्या इससे नया वैरिएंट बनने की संभावना है?
जवाब: फिलहाल अमेरिका जैसे अमीर देशों में वैक्सीन की भरमार है और अफ्रीका के कई गरीब देशों में वैक्सीन की कमी। अफ्रीका के 85% लोगों को अब तक वैक्सीन की पहली डोज भी नसीब नहीं हुई है। ऐसे में कोरोना के नए वैरिएंट्स बनने की पूरी संभावना है, क्योंकि लोगों में ये वायरस फैलता ही चला जा रहा है।
जवाब: डब्लूएचओ की जिस टीम ने चीन का दौरा किया था, उसे वायरस के जानवर से इंसान में ट्रांसफर होने की संभावना ज्यादा लगी। ये जानवर जंगली था या पालतू, पक्षी था या चमगादड़, ये कहना अभी मुश्किल है। हालांकि इसका मतलब ये नहीं कि ये लैब लीक नहीं हो सकता। हमें इस विषय पर और रिसर्च करने की जरूरत है।
जवाब: अधिकतर वायरस जानवरों से ही इंसानों में ट्रांसफर होते हैं। किस जानवर से कौन सा वायरस आया, ये पता करने में सालों लग जाते हैं। उदाहरण के तौर पर, सर्स और मेर्स नाम के दो कोरोना वायरस मुश्क बिलाव (सिवट कैट) और ऊंट से इंसानों में आए, वैज्ञानिकों को ये समझने में सालों लग गए थे। वहीं, एचआईवी वायरस चिंपैंजी से ट्रांसफर हुआ था, ये पता लगाने में भी बहुत समय लग गया था।
जवाब: हम और बेहतर काम कर सकते थे, लेकिन डब्लूएचओ ने कोरोना को हेल्थ इमरजेंसी तब घोषित किया था, जब दुनिया में इसके 100 से भी कम मामले थे और एक भी मौत नहीं हुई थी। यदि उस समय विश्व ने हमारी चेतावनी को गंभीरता से लिया होता तो शायद आज हमें महामारी से न जूझना पड़ता। चेतावनी के कुछ हफ्ते बाद ही यूरोप और अमेरिका में कोरोना ने तबाही मचाना शुरू कर दिया था।
जवाब: भविष्य में आने वाली खतरनाक महामारियों से बचने के लिए हमें पहले से तैयार रहने की जरूरत है। डब्ल्यूएचओ के 194 मेंबर देशों को साथ मिलकर काम करना होगा। वायरस के आउटब्रेक की जांच करने के लिए कुछ नियम बनाने होंगे और सभी को उनका पालन करना होगा। इससे हम सभी को फायदा होगा।

बड़े पैमाने पर रोजगार के नए अवसर बनेंगे: सीएम

बड़े पैमाने पर रोजगार के नए अवसर बनेंगे: सीएम   
दुष्यंत टीकम             
रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने रविवार को प्रसारित लोकवाणी में कहा कि पर्यटन से भी राज्य में बड़े पैमाने पर रोजगार के नए अवसर बनेंगे। हम जिस वातावरण में पले-बढ़े हैं, उसमें हमारे पुरखों और माता-पिता से हमें धार्मिक सद्भाव और सांस्कृतिक एकता के संस्कार मिले हैं। आस्था के कारण हमारे मन में किसी स्थान पर दर्शन के लिए जाने की इच्छा पैदा होती है। आस्था से आत्मबल मजबूत होता है और ऐसे पर्यटन पर होने वाला खर्च लोगों को संतोष देता है इसलिए हमने आस्था स्थलों के विकास की रणनीति अपनाई है। इससे नए-नए स्थानों पर अधोसंरचना का विकास होता है। इसमें जो सामग्री लगती है, उससे स्थानीय स्तर पर उद्योग व्यापार पनपता है। 
स्थानीय सामग्री का वेल्यू एडीशन होता है। स्थानीय उत्पादों को अच्छा दाम मिलता है। राम वन गमन पथ के अंतर्गत कोरिया से लेकर सुकमा जिले तक 75 स्थानों का चिन्हांकन किया गया है। प्रथम चरण में 9 स्थानों का विकास किया जा रहा है। चन्दखुरी-जिला रायपुर में माता कौशल्या मंदिर परिसर का जीर्णोद्धार और सौंदर्यीकरण किया गया है, जिसके कारण यहां बड़े पैमाने पर पर्यटक पहुंचने लगे हैं। आदिवासी अंचलों में देवगुड़ी तथा घोटुल स्थलों का विकास किया जा रहा है। सतरेंगा, सरोधा दादर, बालाछापर सरना, गंगरेल आदि स्थानों पर नए तरह के पर्यटन की सुविधाएं विकसित की गई हैं, जिससे इन स्थानों में बड़ी संख्या में लोग पहुंचने लगे हैं। इससे स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर पर भी बढ़े हैं। छत्तीसगढ़ी खान-पान को प्रोत्साहित करने के लिए गढ़ कलेवा की स्थापना 16 जिलों में कर दी गई है। हमने छत्तीसगढ़ की अपनी फिल्म विकास नीति भी लागू कर दी है।
मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि कोरोना काल में हमने सिर्फ छत्तीसगढ़ के ही नहीं बल्कि यहां से गुजरकर दूसरे राज्यों को जाने वाले मजदूरों की भी मदद की है। हमने अपने राज्य के मजदूरों के खाने-पीने, ठहरने, गांवों में क्वारंटाइन होने, जांच और उपचार की व्यवस्था के अलावा उन्हें अपने ही राज्य में रोजगार दिलाने के उपाय किए थे। हमारे बेहतर प्रबंधन को राष्ट्रीय स्तर पर सराहना मिली थी। उसी समय हमने घोषणा की थी कि प्रवासी श्रमिकों के लिए नीति बनाएंगे। इस तरह हमने छत्तीसगढ़ प्रवासी श्रमिक नीति 2020 को तैयार कर अधिसूचित किया है। इस नीति के तहत वापस लौटे प्रवासी श्रमिकों का ऑनलाइन पंजीयन किया गया। पलायन पंजी के ऑनलाइन संधारण की व्यवस्था की गई है। हम संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्रों के श्रमिकों के कल्याण की योजनाएं संचालित कर रहे हैं। श्रमिकों के परंपरागत कौशल को नवीन ज्ञान से संवारने हेतु उनके प्रशिक्षण की व्यवस्था की जा रही है। हम छत्तीसगढ़ में ऐसे अवसर पैदा कर रहे हैं कि हमारे प्रदेश के श्रमिकों को अन्य प्रदेशों में जाना ही नहीं पड़े। उनका कौशल और मेहनत राज्य के विकास के काम आए।
भारत सरकार की ओर से असंगठित श्रमिकों के पंजीयन के लिए जो ई-श्रम पोर्टल बनाया गया है। उसमें भी हमने 64 लाख श्रमिकों का पंजीयन करते हुए देश में तीसरा स्थान हासिल किया है। हमने कारखाना अधिनियम के तहत कामगारों की सेवानिवृत्ति आयु 58 से बढ़ाकर 60 वर्ष कर दी है। इसके अलावा दो नई योजनाओं की घोषणा 26 जनवरी के अवसर पर की है। प्रत्येक जिला मुख्यालय तथा विकासखण्ड स्तर पर ‘मुख्यमंत्री श्रमिक संसाधन केन्द्र’ की स्थापना की जाएगी।
श्रमिक परिवारों की बेटियों की शिक्षा, रोजगार, स्वरोजगार तथा विवाह में सहायता के लिए ‘मुख्यमंत्री नोनी सशक्तीकरण सहायता योजना’ शुरू की जाएगी। इस योजना के तहत ‘छत्तीसगढ़ भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल’ में पंजीकृत हितग्राहियों की प्रथम दो पुत्रियों के बैंक खाते में 20-20 हजार रुपए की राशि का भुगतान एकमुश्त किया जाएगा। विगत तीन वर्षों में एक ओर जहां नक्सलवाद और उसकी हिंसक गतिविधियों पर प्रभावी अंकुश लगा है वहीं दूसरी ओर उद्योग, व्यापार और कारोबार में लगे लोगों को यह विश्वास हुआ है कि सरकार उनके साथ खड़ी है। प्रदेश के आर्थिक विकास के लिए उत्साहजनक वातावरण निर्मित हुआ है, जिससे हर क्षेत्र में रोजगार के अवसर बढ़े हैं।
मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि हमने अधोसंरचना विकास के लिए बहुस्तरीय रणनीति अपनाई है। प्रदेश में 21 हजार करोड़ रुपए से अधिक लागत से सड़कों के निर्माण की कार्ययोजना बनाई गई है, जिसमें विभिन्न स्तरों पर काम चल रहा है। प्रदेश में सिंचाई क्षमता बढ़ाने के लिए केलो परियोजना, खारंग परियोजना, मनियारी परियोजना, अरपा भैंसाझार परियोजना को इस वर्ष पूर्ण करने के लिए तेजी से कार्य किया जा रहा है। इसके अलावा हमने अनेक व्यावहारिक उपाय करते हुए मरम्मत व अन्य तरीकों से वास्तविक सिंचाई क्षमता को दोगुना कर दिया है। हमने विगत तीन वर्षों में डॉक्टरों तथा मेडिकल स्टाफ की संख्या लगभग दोगुनी कर दी है। विभिन्न विभागों के निर्माण कार्यों से स्थानीय युवाओं को जोड़ने के लिए हमने ई-श्रेणी पंजीयन की व्यवस्था की है, जिसमें विकासखण्ड स्तर पर 5 हजार युवाओं का पंजीयन किया गया है और उन्हें 200 करोड़ रूपए से अधिक लागत के काम सीमित प्रतियोगिता के आधार पर दिए गए हैं। इसके साथ ही ग्रामीण अधोसंरचना के विकास के लिए सुराजी गांव योजना संचालित की जा रही है। 
नरवा, गरुवा, घुरुवा और बारी के विकास से बहुत बड़े पैमाने पर ग्रामीण कारोबार के अवसर बढ़े हैं।
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था के लिए चार तरह के संसाधनों का सबसे ज्यादा योगदान हो सकता है-पहला खनिज, दूसरा कृषि, तीसरा वानिकी और चौथा मानव संसाधन। खनिज आधारित उद्योगों की स्थापना के लिए पूर्व में अनेक प्रयास हुए हैं लेकिन उनकी अपनी सीमाएं भी हैं। कृषि, वन और मानव संसाधन की भागीदारी को बहुत बड़े पैमाने में बढ़ाने की संभावनाएं हैं, जिस पर पहले गंभीरता से काम नहीं किया गया। दशकों से कृषि के नाम पर धान, वन के नाम पर तेन्दूपत्ता और मानव संसाधन के नाम पर सीमित सरकारी नौकरियों से अधिक की सोच नहीं रखी गई। हमने पूरी रणनीति ही बदल दी है। खनिज आधारित उद्योगों के स्थान पर ऐसे उद्योगों को प्राथमिकता दी गई जिससे पर्यावरण प्रभावित न हो। कृषि और वानिकी को सर्वोच्च प्राथमिकता दी गई। 
एक ओर धान की खेती करने वाले किसानों का मनोबल बढ़ाया वहीं दूसरी ओर वैकल्पिक फसलों के प्रति भरपूर जागरुकता पैदा की गई। हम बरसों से यह सुनते आए थे कि धान और गरीबी का चोली-दामन का साथ होता है। हमने इस कहावत को झुठला दिया है। अब हमारे धान उत्पादक किसान भी समृद्ध हैं। यही वजह है कि प्रदेश में धान की उत्पादकता और उत्पादन में रिकार्ड तोड़ वृद्धि हुई है। वहीं हर साल समर्थन मूल्य पर खरीदी का भी नया कीर्तिमान बना है। वर्ष 2017-18 में सिर्फ 15 लाख 77 हजार पंजीकृत किसान थे, जो अब बढ़कर 22 लाख 66 हजार हो गए। इसमें से 21 लाख 77 हजार किसानों ने धान बेचा है। खेती का रकबा 22 लाख से बढ़कर 30 लाख 11 हजार हेक्टेयर हो गया। धान की खरीदी 56 लाख 88 हजार से बढ़कर लगभग 98 लाख मीट्रिक टन हो गई। इसके अलावा मक्का, गन्ना, तिलहन, दलहन, लघु धान्य फसल, उद्यानिकी फसलों का विकास भी तेजी से हो रहा है।

फिल्म ‘गहराइयां’ को प्राइम वीडियो पर रिलीज किया

फिल्म ‘गहराइयां’ को प्राइम वीडियो पर रिलीज किया   

कविता गर्ग     

मुंबई। दीपिका पादुकोण, अनन्या पांडे और सिद्धांत चतुर्वेदी स्टारर फिल्म ‘गहराइयां’ हाल ही में ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेजन प्राइम वीडियो पर रिलीज कर दी गई है। फिल्म की कहानी नई पीढ़ी के रिश्तों की उलझन और इसकी नादानियों को लेकर है। दीपिका पादुकोण की फिल्म के बारे में सवाल करने पर एक पत्रकार को लताड़ने के बाद अब कंगना रनौत ने जैसे इस फिल्म के बारे में पूरा रिव्यू ही लिख डाला है। कंगना रनौत ने दीपिका पादुकोण की फिल्म की जमकर बुराई की है।

अब देखना ये होगा कि क्या ये सब कुछ बॉलीवुड की एक नई कैट फाइट को जन्म देने जा रहा है या फिर दीपिका पादुकोण इस मामले पर खामोश ही रहेंगी? शनिवार रात कंगना रनौत ने अपनी इंस्टा स्टोरीज पर मनोज कुमार और माला सिन्हा की फिल्म ‘हिमालय की गोद में’ का गाना ‘चांद सी महबूबा हो मेरी’ को शेयर करते हुए लिखा, ‘मैं भी स्टार ऑफ द मिलेनियम हूं लेकिन फिर भी इस तरह के रोमांस को पहचानती और समझती हूं।

कंगना रनौत ने अपनी इंस्टा स्टोरी में लिखा, ‘मिलेनियम/नई पीढ़ी और शहरी फिल्मों के नाम पर प्लीज ये सब कबाड़ मत बेचो। खराब फिल्में खराब फिल्में ही होती हैं। कितना भी शरीर या पोर्नोग्राफी दिखा लो, इसे बचा नहीं पाओगे। देखो बुनियादी फैक्ट ये है कि इसमें गहराइयां वाली कोई बात ही नहीं है।’ कंगना रनौत ने अपनी इस पोस्ट के जरिए दीपिका की फिल्म को सिरे से खारिज कर दिया है। मालूम हो कि दीपिका पादुकोण की फिल्म ‘गहराइयां’ को लेकर पब्लिक सेंटीमेंट बस ठीक-ठाक ही रहा है। फिल्म का रिव्यू कुछ खास जोरदार नहीं रहा है, ऑडियंस का रिएक्शन भी इस फिल्म पर सादा ही रहा है। कोविड और बाकी चीजों को ध्यान में रखते हुए फिल्म को अमेजन प्राइम पर रिलीज किया गया है जिसके दाम पिछले दिनों ही बढ़ाए गए हैं। ऐसे में फिल्म चारों खाने चित भी हो सकती है।

हिजाब पहनने वाली लड़की 'भारतीय पीएम' बनेगी

हिजाब पहनने वाली लड़की 'भारतीय पीएम' बनेगी   

इकबाल अंसारी      

बेंगलुरु। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख और लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि एक दिन हिजाब पहनने वाली लड़की भारत की प्रधानमंत्री बनेगी। उनका यह बयान कर्नाटक में जारी हिजाब विवाद के बीच आया है। आपको बता दें कि उडुपी के एक सरकारी कॉलेज में मुस्लिम छात्रों के एक समूह को हिजाब पहनने के कारण उनके क्लास में प्रवेश करने से रोक दिया गया था। एआईएमआईएम चीफ ओवैसी ने रविवार को एक वीडियो ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने कहा कि हिजाब पहनकर महिलाएं कॉलेज जाएंगी, जिला कलेक्टर, मजिस्ट्रेट, डॉक्टर, व्यवसायी वगैरह बनेंगी। एक रैली में लोगों को संबोधित करते हुए ओवैसी को वीडियो में यह कहते हुए सुना जा सकता है, “मैं इसे देखने के लिए जीवित नहीं हो सकता, लेकिन मेरे शब्दों पर ध्यान दें। एक दिन हिजाब पहनने वाली लड़की प्रधानमंत्री होगी।”

उन्होंने कहा, “अगर हमारी बेटियां फैसला करती हैं और अपने माता-पिता से कहती हैं कि वे हिजाब पहनना चाहती हैं, तो उनके माता-पिता उनका समर्थन करेंगे। देखते हैं कि उन्हें कौन रोक सकता है!”इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ओवैसी से उनके बयान के बारे में पूछा तो उन्होंने जवाब देने से परहेज किया। कर्नाटक हिजाब विवाद तब शुरू हुआ जब युवा मुस्लिम छात्राओं के एक समूह को हिजाब पहनने के कारण उडुपी जिले के एक सरकारी कॉलेज में प्रवेश नहीं करने दिया गया।यह मुद्दा पूरे राज्य में फैल गया। कई कॉलेजों और स्कूलों ने इसी तरह के फरमान जारी किए।

छात्रों के विरोधी समूहों ने शैक्षणिक संस्थानों में हिजाब पहनने के अधिकार के खिलाफ और विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। मुस्लिम लड़कियों का विरोध करने वालों ने भगवा स्कार्फ पहन रखा था और विचारधारा में टकराव कुछ इलाकों में हिंसक हो गया। इस मुद्दे पर राष्ट्रीय राजनीतिक दलों द्वारा एक-दूसरे पर हमला करने के साथ विवाद और बढ़ गया। विरोध अब देश के विभिन्न हिस्सों में फैल गया है और मामला वर्तमान में उच्च न्यायालय में है।

डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन में 150 पदों पर भर्ती

डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन में 150 पदों पर भर्ती   

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। भारत सरकार के डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गेनाइजेशन में 150 पदों पर भर्ती निकली है। जिसके लिए ग्रेजुएट अभ्यर्थी 7 फरवरी तक डीआरडीओ की ऑफिशल वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। अभ्यर्थियों का चयन रिटर्न टेस्ट और इंटरव्यू के आधार पर किया जाएगा। जिसके बाद चयनित अभ्यर्थियों को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम मिसाइल कॉम्प्लेक्स की रिसर्च विंग में ट्रेड, टेक्निशियन और ग्रेजुएट अप्रेंटिस के पद पर नियुक्ति दी जाएगी। मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय या किसी अन्य उच्च शिक्षा संस्थान से सम्बन्धित ट्रेड में बीई/बीटेक या बीकॉम या बीएससी डिग्री पास होना चाहिए।

टेक्निशियन अप्रेंटिस या डिप्लोमा अप्रेंटिस
उम्मीदवारों को मान्यता प्राप्त संस्थान से सम्बन्धित ट्रेड में डिप्लोमा किया होना चाहिए। सम्बन्धित ट्रेड में आईटीआई किया होना चाहिए। हालांकि, ऐसे उम्मीदवार आवेदन के पात्र नहीं हैं, जिन्होंने पोस्ट-ग्रेजुएशन डिग्री प्राप्त कर ली है। ग्रेजुएट, डिप्लोमा और आईटीआई तीनों ही लेवल के लिए अप्रेंटिस पदों पर भर्ती शैक्षणिक योग्यता के अंकों, रिटन एग्जाम और इंटरव्यू के आधार पर की जाएगी।

ग्रेजुएट अप्रेंटिस 9 हजार रुपए प्रतिमाह। टेक्निशियन (डिप्लोमा) अप्रेंटिस : 8 हजार रुपए प्रतिमाह। ट्रेड (आईटीआई) अप्रेंटिस : सरकार के नियमानुसार स्टाइपेंड दिया जाएगा। अगले पेज पर एप्पली हेयर की ऑप्शन पर जाएं। मांगी गई डिटेल भरकर रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी करें। रजिस्ट्रेशन के बाद एप्लिकेशन फॉर्म भर सकते हैं।

अंतरिक्ष भौतिकी के सहयोग से तैयार 'पीएसएलवी'

अंतरिक्ष भौतिकी के सहयोग से तैयार 'पीएसएलवी'    

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के 2022 के पहले प्रक्षेपण अभियान के तहत पीएसएलवी-सी 52 के जरिए धरती पर नजर रखने वाले उपग्रह ईओएस-04 को कक्षा में भेजने के लिए 25 घंटे की उलटी गिनती रविवार सुबह शुरू हो गई। अंतरिक्ष एजेंसी ने यह जानकारी दी। ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (पीएसएलवी) अपने साथ दो छोटे उपग्रहों को भी ले जाएगा। इसका प्रक्षेपण आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र के पहले लॉन्च पैड से सोमवार को सुबह 05:59 बजे निर्धारित है। इसरो ने एक ट्वीट में कहा कि ‘पीएसएलवी-सी52/ईओएस-04 मिशन: प्रक्षेपण के लिए 25 घंटे 30 मिनट की उलटी गिनती की प्रक्रिया आज सुबह 04:29 बजे शुरू हो गई है।

ईओएस-04 एक ‘रडार इमेजिंग सैटेलाइट’ है। जिसे कृषि, वानिकी और वृक्षारोपण, मिट्टी की नमी और जल विज्ञान तथा बाढ़ मानचित्रण जैसे अनुप्रयोगों एवं सभी मौसम स्थितियों में उच्च गुणवत्ता वाली तस्वीरें प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है। पीएसएलवी अपने साथ में दो छोटे उपग्रहों को भी ले जाएगा, जिनमें कोलोराडो विश्वविद्यालय, बोल्डर की वायुमंडलीय और अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला के सहयोग से तैयार किया गया। भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईएसटी) का उपग्रह इन्सपायरसैट-1 भी शामिल है।

इसमें एनटीयू, सिंगापुर और एनसीयू, ताइवान का भी योगदान रहा है। इस उपग्रह का उद्देश्य आयनमंडल के गति विज्ञान और सूर्य की कोरोनल ऊष्मीय प्रक्रियाओं की समझ में सुधार करना है। वहीं, दूसरा उपग्रह इसरो का एक प्रौद्योगिकी प्रदर्शक उपग्रह (आईएनएस-2टीडी) है।

'टर्म 2' बोर्ड परीक्षा आयोजित करेगा सीबीएसई

'टर्म 2' बोर्ड परीक्षा आयोजित करेगा सीबीएसई     

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड मार्च-अप्रैल 2022 में कक्षा 10 और कक्षा 12 के छात्रों के लिए टर्म 2 बोर्ड परीक्षा आयोजित करेगा। टर्म 1 बोर्ड परीक्षा नवंबर-दिसंबर 2021 में आयोजित की गई थी और परिणाम हैं। सीबीएसई बोर्ड परीक्षा पाठ्यक्रम जानने के लिए इस लेख को पढ़े। सीबीएसई टर्म 2 बोर्ड परीक्षा कम पाठ्यक्रम के 50 प्रतिशत पर होगी। कागजात में उद्देश्य और व्यक्तिपरक प्रश्न दोनों के मामले-आधारित, स्थिति-आधारित, ओपन-एंडेड शॉर्ट उत्तर और लंबे उत्तर प्रकार के प्रश्न होंगे और दो घंटे की अवधि के लिए आयोजित किया जाएगा।सीबीएसई ने पहले ही टर्म 2 परीक्षाओं की तैयारी शुरू कर दी है और इसके लिए डेट शीट व्यावहारिक परीक्षाओं के साथ-साथ थ्योरी परीक्षाओं के अगले सप्ताह तक होने की संभावना है। इसके अलावा बोर्ड द्वारा कक्षा 10 और 12 दोनों के लिए टर्म 1 का परिणाम जारी करने की भी उम्मीद है।इस बीच सीबीएसई बोर्ड आगामी दिनों में टर्म 2 बोर्ड परीक्षाओं के लिए नमूना प्रश्न पत्र भी जारी कर सकता है। 

नमूना पत्र छात्रों को परीक्षा पैटर्न और मूल्यांकन प्रक्रिया के बारे में एक विचार देते हैं। टर्म 2 परीक्षा की तारीखों के बारे में पूछे जाने पर सीबीएसई के एक अधिकारी ने बताया कि बोर्ड 15 फरवरी से व्यावहारिक परीक्षा शुरू करना चाहता था। लेकिन, कोविड मामलों में उछाल और 5 राज्यों- यूपी, पंजाब, उत्तराखंड में विधानसभा चुनावों के कारण ऐसा नहीं हो सका। इस प्रकार बोर्ड फरवरी के अंत तक व्यावहारिक परीक्षा शुरू करने पर विचार कर रहा है।

जालंधर: 14 को जनसभा संबोधित करेगें 'पीएम'

जालंधर: 14 को जनसभा संबोधित करेगें 'पीएम'   


अमित शर्मा    

चंडीगढ़। बीजेपी ने अपना ध्यान पंजाब पर लगाना शुरू कर दिया है। सोमवार को पीएम मोदी की तीन रैलियों में अपने प्रत्याशियों के लिए जनसभा को संबोधित करेंगे। पंजाब की 117 सीटों पर बीजेपी इस बार 65 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। 

सहयोगी अमरिंदर सिंह की पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस 37 सीट पर चुनाव लड़ रही है। प्रधानमंत्री मोदी 14 फरवरी को जालंधर में पहली जनसभा को संबोधित करेंगे। 16 फरवरी को दूसरी जनसभा पठानकोट में।और 17 फरवरी को अबोहर में तीसरी जनसभा को संबोधित करेंगे।

सीएनजी कारों का हिस्सा 20 प्रतिशत पर पहुंचा

सीएनजी कारों का हिस्सा 20 प्रतिशत पर पहुंचा      

अकांशु उपाध्याय         

नई दिल्ली। टाटा मोटर्स को उम्मीद है कि अगले तीन से पांच साल में उसकी कुल बिक्री में सीएनजी कारों का हिस्सा बढ़कर 20 प्रतिशत पर पहुंच जाएगा। कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी का मानना है कि अधिक से अधिक संख्या में प्रवेश स्तर की पेट्रोल और डीजल कारों के ग्राहक आगे चलकर सीएनजी वाहन खरीदना पसंद करेंगे। मुंबई की वाहन कंपनी इलेक्ट्रिक वाहन खंड को लेकर भी उत्साहित है। कंपनी का मानना है कि अगले कुछ साल में उसकी बिक्री का लगभग 20 प्रतिशत हिस्सा इलेक्ट्रिक वाहनों का होगा। टाटा मोटर्स के अध्यक्ष-यात्री वाहन और इलेक्ट्रिक वाहन शैलेश चंद्रा ने विश्लेषकों से बातचीत में कहा,”मुझे लगता है कि सीएनजी एक ऐसा खंड है जो आने वाले वर्षों में बढ़ने वाला है। यह पेट्रोल की जगह लेगा। पेट्रोल की बढ़ती लागत की वजह से सीएनजी वाहनों की मांग बढ़ेगी।

चंद्रा ने कहा कि ‘इसलिए कंपनी इसका मजबूत भविष्य देखती है। यही वजह है कि आज देश में सीएनजी स्टेशनों का तेजी से विस्तार हो रहा है। इसकी पहुंच बढ़ रही है।’ चंद्रा ने कहा कि वर्तमान में कंपनी के पोर्टफोलियो में डीजल कारों की बिक्री का हिस्सा करीब 15 प्रतिशत है, जबकि पेट्रोल और सीएनजी वाहनों का हिस्सा क्रमश: 66 प्रतिशत और 12 प्रतिशत है। शेष हिस्सा इलेक्ट्रिक वाहनों का है। उन्होंने कहा कि ‘अगले तीन से पांच वर्षों में पेट्रोल संभवतः लगभग 50 प्रतिशत के स्तर पर आ जाएगा, सीएनजी 20 प्रतिशत तक चला जाएगा..डीजल लगभग 10 प्रतिशत तक नीचे आ जाएगा।

ईवी के लिए हमारा लक्ष्य 20 प्रतिशत का है। उन्होंने कहा कि कंपनी सीएनजी मॉडलों की श्रृंखला के विस्तार के लिए हैचबैक और सेडान खंड पर ध्यान दे रही है। चंद्रा ने कहा कि’मुझे लगता है कि एसयूवी में सीएनजी के लिए मुश्किल होगी। ऐसे में इस खंड में सीएनजी की पहुंच सीमित रहेगी। लेकिन यदि सीएनजी और पेट्रोल के अर्थशास्त्र के हिसाब से देखा जाए, तो एसयूवी खंड में भी इसकी कुछ पहुंच होगी। लेकिन यह प्रवेश स्तर जैसी नहीं होगी।’ यह पूछे जाने पर कि क्या कंपनी हाइब्रिड कारों पर भी ध्यान देगी, चंद्रा ने कहा कि हमने ईवी के बारे में काफी सोच-विचार के बाद निर्णय लिया है। ”कुछ कंपनियों ने हाइब्रिड को लेकर विचार बनाया है और वे ऐसे वाहन उपलब्ध करा रही हैं। वे ऐसा कॉरपोरेट औसत ईंधन अर्थव्यवस्था (सीएएफई) की जरूरत को पूरा करने के लिए कर रही हैं।” उन्होंने कहा कि हम ऐसी प्रौद्योगिकियों पर ध्यान दे रहे हैं जिससे सीएएफई की जरूरत को पूरा कर सकें।


सपा के प्रत्याशियों को जिताने की अपील: अखिलेश

सपा के प्रत्याशियों को जिताने की अपील: अखिलेश  

संदीप मिश्र       

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को बदायूं और शाहजहांपुर जिले की विधानसभा क्षेत्रों में कार्यकर्ता सम्मेलन किया। यादव ने मुरादाबाद, संभल और दूसरे चरण के चुनाव के अन्य जिलों के समाजवादी पार्टी और गठबंधन के प्रत्याशियों को जिताने की अपील की। उन्होंने कहा कि पहले चरण में भाजपा का सफाया हो गया है। दूसरे चरण में भी सफाया होना तय है। भाजपा के नेता और कार्यकर्ता पहले चरण के बाद ही ठंडे हो गए हैं। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी गठबंधन की सरकार आने वाली है। अखिलेश यादव ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में भाजपा सरकार की लापरवाही के चलते बहुत बड़ी संख्या में लोगों की जान चली गई। हजारों परिवारों ने अपनों को खोया है। भाजपा सरकार लोगों को ऑक्सीजन, दवा और बेड नहीं दे पाई है। ऐसी लापरवाह सरकार को उखाड़ फेंकना है।अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार लापरवाही नहीं करती तो बहुत सारे लोग आज अपने परिवार के बीच होते। उस दुख और पीड़ा को कोई भूल नहीं सकता है। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने लोगों को संकट में डाला है। महंगाई और बेरोजगारी को बढ़ा दिया है। डीजल पेट्रोल के दाम बहुत बढ़ गए हैं। बेरोजगारी प्रदेश और देश में सबसे ज्यादा है। लेकिन भाजपा का कोई नेता महंगाई और बेरोजगारी की बात नहीं करता है। सब झूठे वादे करते हैं। छोटे नेता छोटा झूठ बोलते हैं और बड़े नेता बड़ा झूठ बोलते हैं।

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा नेता डोर-टू-डोर कैंपेन कर रहे थे। जबसे महिलाओं ने लाल सिलेण्डर दिखाना शुरू कर दिया है तब से डोर-टू-डोर कैंपेन बंद हो गई हैं। यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने गरीबों की जेब काटकर अमीरों की तिजोरी भरने का काम किया है। मध्यमवर्ग और गरीब परेशान हैं वहीं कुछ उद्योगपति और अमीर होते जा रहे हैं। बाबा मुख्यमंत्री अहंकार में है। वह गर्मी निकालने की बात करते हैं। हम आप लोगों से वादा करते हैं समाजवादी और गठबंधन की सरकार बनने पर नौजवानों के लिए नौकरियों की भर्ती निकालेंगे।अखिलेश यादव ने कहा कि फौज में और पुलिस में नौजवानों के लिए नौकरी का इंतजाम करेंगे। सरकारी विभागों में लाखों पद खाली हैं। उन पदों पर हमारे नौजवानों की भर्ती होगी। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने नौजवानों के लिए कोई भर्ती नहीं की। परीक्षाएं रद्द हुई या तो पेपर लीक हुए। जब नौजवान नौकरी और रोजगार के लिए अपनी आवाज उठाता है तो यह सरकार उसे लाठियों से पिटवाती है। यादव ने कहा कि भाजपा ने किसानों से आय दोगुनी करने का झूठा वादा किया। छात्रों से लैपटॉप देने का झूठा वादा किया। समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी तो महंगाई कम करेंगे। 300 यूनिट घरेलू बिजली मुफ्त देंगे। किसानों की फसल एमएसपी पर खरीदी जाएगी। किसानों को दो बोरी डीएपी और पांच बोरी यूरिया मुफ्त दी जाएगी। किसानों की सिंचाई पूरी तरह से फ्री होगी। 

यादव ने कहा कि सरकारी विभागों में 11 लाख नौजवानों को नौकरी देंगे। आईटी सेक्टर में 22 लाख युवाओं को अच्छी नौकरी दी जाएगी। गन्ना किसानों के भुगतान के लिए फार्मर कार्पस फंड बनाएंगे। गन्ने का भुगतान 15 दिन के अंदर कराया जाएगा। बीजेपी सरकार किसानों को ना खाद दे पाई और ना उनकी फसलों की खरीद कर पाई। सपा सरकार बनने पर एक्सप्रेस वे के किनारे मंडिया बनाएंगे। कानून व्यवस्था को और मजबूत करने के लिए डायल 100 सिस्टम में गाड़ियां बढ़ाई जाएंगी। स्वास्थ्य सेवाओं को और मजबूत करने के लिए 108 गाड़ियों की संख्या दुगनी करेंगे। बदायूं को सीधा लखनऊ पहुंचने के लिए एक्सप्रेस-वे से जोड़ेंगे।    अखिलेश यादव ने कहा कि यह चुनाव सरकार बनाने का है। हमने महान दल, ओमप्रकाश राजभर जी, राष्ट्रीय लोकदल, अपना दल कमेरावादी समेत तमाम दलों को जोड़ा है। चाचा की भी पार्टी को जोड़ लिया है। अब समाजवादी पार्टी का मुकाबला कोई नहीं कर सकता है। हम प्रदेश की जनता को भाजपा के कुशासन, महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार से मुक्त कराएंगे। उन्होंने कहा कि यह चुनाव लोकतंत्र और संविधान को बचाने का है। भाजपा लोकतंत्र और संविधान के लिए खतरा है। मैं अंबेडकरवादियों से भी अपील करता हूं कि वह समाजवादियों के साथ मिलकर लोकतंत्र और संविधान को बचाने के लिए खड़े हों।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-127, (वर्ष-05)
2. सोमवार, फरवरी 14, 2022
3. शक-1984, मार्गशीर्ष, शुक्ल-पक्ष, तिथि-त्रियोदशी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 07:01, सूर्यास्त: 06:09।
5. न्‍यूनतम तापमान- 10 डी.सै., अधिकतम-22+ डी सै.।  बर्फबारी व शीतलहर की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, (प्रधान संपादक) राधेश्याम व शिवांशु, (सहायक संपादक) श्रीराम व सरस्वती के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
10.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालयः डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया 

एससी ने सभी महिलाओं को 'गर्भपात' का हक दिया  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। गुरुवार को देश की सबसे बड़ी अदालत सुप्रीम कोर्...