रविवार, 5 जुलाई 2020

2036 तक पुतिन राष्ट्रपति बने रहेंगे

मास्को। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन वर्ष 2036 तक राष्ट्रपति पद पर बने रहेंगे। उन्हें एक्सटेंशन दिए जाने से जुड़े संवैधानिक संशोधन पर रूस की जनता ने अपनी मुहर लगा दी है। व्लादिमिर पुतिन को वर्ष 2024 में अपना पद छोड़ना था लेकिन अब वो 2036 तक अपने पद पर बने रहेंगे। उन्हें  12 वर्षों का एक्सटेंशन मिला है। और इसी के साथ वो रूस में सबसे लंबे समय तक सत्ता में रहने वाले सर्वोच्च नेता बन जाएंगे। इससे पहले 29 वर्षों तक सत्ता में रहे थे। पुतिन की छवि एक राष्ट्रवादी नेता की है। पुतिन रूस को एक बार फिर से महाशक्ति बनाना चाहते हैं और रूस की 78 प्रतिशत जनता ने उनके पक्ष में मतदान करके एक बार फिर उन पर विश्वास जताया है। व्लादिमीर पुतिन का रूस की सत्ता के शिखर पर पहुंचने का सफर काफी दिलचस्प रहा है। साल 1952 में सेंट पीट्सबर्ग में पैदा हुए पुतिन ने अपने करियर की शुरुआत केजीबी (KGB) से की केजीबी सोवियत युग की सिक्योरिटी पुलिस हुआ करती थी। साल 1990 से 1996 तक मॉस्को आने से पहले वह सेंट पीट्सबर्ग एडमिनिस्ट्रेशन में काम करते रहे। अगस्त 1999 में रूस के प्रधानमंत्री बने।


भूमाफिया 'चीन' की नहीं मिट रही भूख

बीजिंग। 'भूमाफिया चीन' की भूख नहीं मिट रही है। पूरी दुनिया को कोरोना बांटने के बाद चीन कई देशों के साथ तनावपूर्ण रिश्तों को बढ़ावा देने में लगा हुआ है। भारत, म्यांमार, जापान के बाद अब चीन ने रूस से दुश्मनी मोल ली है। वो रूस, जो चीन के साथ ऐसे समय साथ रहा, जब पूरी दुनिया कोरोना वायरस के लिए उसकी आलोचना कर रही है।


रूस इस समय कोरोना से कहर झेल रहा है लेकिन उसने चीन पर आरोप नहीं लगाए। रूस ने हांगकांग के मुद्दे पर भी चुप्पी साध रखी है। एक भी शब्द चीन के खिलाफ नहीं बोला। लेकिन चीन ने रूस को बदले में क्या दिया? चीन ने रूस के एक शहर पर अपना दावा ठोक दिया है। आप सही पढ़ रहे हैं। चीन ने रूस के शहर व्लादिवोस्तोक पर दावा ठोका है। यह शहर कभी किंग राजवंश से संबंधित था। रूस ने द्वितीय अफीम युद्ध में चीन को हराने के बाद इस क्षेत्र पर नियंत्रण स्थापित कर लिया। चीन को यह क्षेत्र रूस को देना पड़ा। इसके लिए दोनों देशों के बीच 1860 में एक संधि भी हुई थी। तब से यह शहर रूस के आधिपत्य में है लेकिन चीन ने इस संधि को मानने से इनकार कर दिया है।


2 घंटे 43 मिनट तक रहेगा चंद्र ग्रहण

श्रीराम उपाध्याय


नई दिल्ली। चंद्र ग्रहण ज्योतिष और खगोल शास्त्र दोनों के लिए एक महत्वपूर्ण विषय है। बीते दिनों में 21 जून को सूर्य ग्रहण लगा था और अब 5 जुलाई को साल का तीसरा चंद्र ग्रहण लगा। जो कि एक उपच्छाया चंद्र ग्रहण था। लेकिन भारत के लोग इस ग्रहण को नहीं देख पाए।


ग्रहण का समय और सूतक काल: ये ग्रहण भारत में नहीं दिखाई दिया जिस वजह से इसका सूतक काल भी मान्य नहीं था। धार्मिक मान्यताओं अनुसार सूतक काल ग्रहण लगने से पहले की वो अवधि होती है जिसमें किसी भी तरह के शुभ कार्य नहीं किये जाते। ग्रहण की शुरुआत 5 जुलाई की सुबह 08:38 AM से हुई। इसका परमग्रास 09:59 AM पर और इसकी समाप्ति 11:21 AM पर। ग्रहण की कुल अवधि 02 घण्टे 43 मिनट की रही। अगला चंद्र ग्रहण 30 नवंबर को लगेगा।


चंद्र ग्रहण और उपच्छाया चंद्र ग्रहण में अंतर: चन्द्रग्रहण उस घटना को कहते हैं जब चन्द्रमा और सूर्य के बीच में धरती आ जाती है जिससे चंद्रमा आंशिक या पूर्ण रूप से ढक जाता है। इससे चांद बिंब काला पड़ जाता है। आपको बता दें कि ग्रहण लगने से पहले चंद्रमा पृथ्वी की उपच्छाया में प्रवेश करता है जिसे चंद्र मालिन्य कहते हैं और अंग्रेजी में इसको कहते हैं। इसके बाद चांद पृथ्वी की वास्तविक छाया भूभा में प्रवेश करता है। जब ऐसा होता है तब ही वास्तविक ग्रहण होता है। लेकिन कई बार चंद्रमा पृथ्वी की उपच्छाया में प्रवेश करके बिना भूभा में प्रवेश किए बिना ही बाहर निकल जाता है। इस स्थिति में चंद्रमा का बिंब केवल धुंधला पड़ता है, काला नहीं । इस धुंधलापन को सामान्य रूप से देखा भी नहीं जा सकता है। इसलिए चंद्र मालिन्य मात्र होने की वजह से ही इसे उपच्छाया चंद्र ग्रहण कहते हैं ना कि चंद्र ग्रहण।               


माता-पिता, गुरु के सम्मान का तरीका

भानु प्रताप उपाध्याय


अपने माता पिता का सम्मान करने के 35 तरीके


शामली। उनकी उपस्थिति में अपने फोन को दूर रखो। 2. वे क्या कह रहे हैं इस पर ध्यान दो। 3. उनकी राय स्वीकारें। 4. उनकी बातचीत में सम्मिलित हों। 5. उन्हें सम्मान के साथ देखें। 6. हमेशा उनकी प्रशंसा करें। 7. उनको अच्छा समाचार जरूर बताएँ। 8. उनके साथ बुरा समाचार साझा करने से बचें। 9. उनके दोस्तों और प्रियजनों से अच्छी तरह से बोलें। 10. उनके द्वारा किये गए अच्छे काम सदैव याद रखें। 11. वे यदि एक ही कहानी दोहरायें तो भी ऐसे सुनें जैसे पहली बार सुन रहे हो। 12. अतीत की दर्दनाक यादों को मत दोहरायें। 13. उनकी उपस्थिति में कानाफ़ूसी न करें। 14. उनके साथ तमीज़ से बैठें। 15. उनके विचारों को न तो घटिया बताये न ही उनकी आलोचना करें। 16. उनकी बात काटने से बचें। 17. उनकी उम्र का सम्मान करें। 18. उनके आसपास उनके पोते/पोतियों को अनुशासित करने अथवा मारने से बचें। 19. उनकी सलाह और निर्देश स्वीकारें। 20. उनका नेतृत्व स्वीकार करें। 21. उनके साथ ऊँची आवाज़ में बात न करे। 22. उनके आगे अथवा सामने से न चलें। 23. उनसे पहले खाने से बचें। 24. उन्हें घूरें नहीं। 25. उन्हें तब भी गौरवान्वित प्रतीत करायें जब कि वे अपने को इसके लायक न समझें। 26. उनके सामने अपने पैर करके या उनकी ओर अपनी पीठ कर के बैठने से बचें। 27. न तो उनकी बुराई करें और न ही किसी अन्य द्वारा की गई उनकी बुराई का वर्णन करें। 28. उन्हें अपनी प्रार्थनाओं में शामिल करें। 29. उनकी उपस्थिति में ऊबने या अपनी थकान का प्रदर्शन न करें। 30. उनकी गलतियों अथवा अनभिज्ञता पर हँसने से बचें। 31. कहने से पहले उनके काम करें। 32. नियमित रूप से उनके पास जायें। 33. उनके साथ वार्तालाप में अपने शब्दों को ध्यान से चुनें।34. उन्हें उसी सम्बोधन से सम्मानित करें जो वे पसन्द करते हैं। 35. अपने किसी भी विषय की अपेक्षा उन्हें प्राथमिकता दें।माता-पिता इस दुनिया में सबसे बड़ा खज़ाना हैं। यह मेसेज हर घर तक पहुंचने मे मदद करे तो बड़ी कृपा होगी मानव जाति का उद्धार संभव हैं, यदि ऊपर लिखी बातों को जीवन में उतार लिया तो। सबसे पहले भगवान, गुरु माता पिता हैं, हर धर्म में इस बात का उल्लेख है।


कानपुर घटना के बाद एनकाउंटर का दौर

कानपुर की घटना के बाद शामली में एनकाउंटर का दौर शुरू


बदलता शासन


भानु प्रताप उपाध्याय 


शामली। उत्तर प्रदेश के कानपुर में हुई बड़ी घटना के बात अब पुलिस भी सतर्क हो गई है। जिसके चलते पुलिस अपराधियों का काल बनती जा रही है। शामली में बीती रात दो अलग-अलग थानों की पुलिस के साथ बदमाशों की मुठभेड़ हुई, जिसमे मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इस घटना में 3 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। पकड़े गए बदमाशों के पास से लूट की 5 बाइक, 4 मोबाइल व 4 अवैध तमंचों के साथ भारी मात्रा में जिंदा कारतूस बरामद हुए हैं। वहीं सभी घायलो को जिला हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है। जहाँ पर सभी घायलों का इलाज चल रहा है। मामला सदर कोतवाली और कैराना कोतवाली क्षेत्र का है। कैराना कोतवाली पुलिस को सूचना मिली थी कि कैराना क्षेत्र के गांव पांवटीकला के खण्डरों में कुछ बदमाश छिपे हुए है, जो किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में है। सूचना के बाद मौके पर पहुँची कैराना पुलिस ने जब वहाँ मौजूद बदमाशो को पकड़ने का प्रयास किया तो बदमाशों ने पुलिस पार्टी पर हमला कर दिया, जिसमें आत्मरक्षा में पुलिस ने बदमाशों पर फायर किया। मुठभेड़ में 2 बदमाश पुलिस की गोली लगने से घायल हुए है। जबकि 2 बदमाश अंधेरा का फायदा उठाकर मौके से फरार हो गए।


फरार बदमाशो की सूचना कंट्रोल रूम के माध्यम से सभी थानों में फ़्लैश की गई। जिसके बाद सदर कोतवाली क्षेत्र के कैराना रोड पर पशुपैठ के पास फरार दोनो बदमाशो से पुलिस की मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में दोनों बदमाशों के पैर में गोली लगी है साथ ही इस घटना में 3 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। अलग-अलग थाना क्षेत्रों में हुई दो मुठभेड़ के बाद पुलिस ने कुल 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया। पुलिस के अनुसार पकड़े गए बदमाश शातिर किस्म के चोर ओर लुटेरे हैं। जिसका मुख्य सरगना शिवम नाम का बदमाश है, जो हाल ही में जेल से छूट कर आया था। उसने जेल से आने के बाद अपना एक अलग से गैंग तैयार किया था, जो लूट और चोरी जैसी घटनाओं को अंजाम देता था। इस गैंग ने 2 दिन पूर्व कैराना क्षेत्र में एक होमगार्ड के साथ मारपीट कर उसे घायल करते हुए लूट की घटना को अंजाम दिया था, जिसमें पुलिस ने कैराना कोतवाली क्षेत्र में अज्ञात में मामला भी दर्ज किया था। पुलिस ने आज उस घटना का भी खुलासा कर दिया। पुलिस ने पकड़े गए बदमाशों के पास से लूट की 5 मोटरसाइकिल 4 मोबाइल व 4 अवैध तमंचे और भारी मात्रा में जिंदा कारतूस व खोखे बरामद किए हैं। पकड़े गए बदमाशों के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जा रही है। मुठभेड की सूचना पाकर शामली एसपी ने अस्पताल पहुंचकर पूरे घटनाक्रम की जानकारी ली व घायल पुलिसकर्मियों का हाल-चाल जाना।             



लिफ्ट देकर लूटने वाले दो गिरफ्तार किए

अतुल त्यागी (मेरठ मंडल प्रभारी)
हापुड़ मे लोगों को लिफ्ट देकर लूटने वाले दो शातिर अपराधी चढ़े पुलिस के हत्थे।


हापुड़। जनपद हापुड़ के थाना बाबूगढ़ पुलिस को उस वक्त बड़ी कामयाबी हाथ लगी जब लोगों को लिफ्ट देकर लूट करने वाले दो शातिर अपराधी पुलिस की गिरफ्त में आ गए पुलिस ने लूट की योजना बनाते समय दोनों को किया गिरफ्तार ।जिनके कब्जे से पुलिस ने लूट की घटना में लूटे गए 11 मोबाइल तथा अवैध असला तथा लूट में प्रयोग की गई स्विफ्ट डिजायर कार व डिस्कवर मोटरसाइकिल बरामद की उप निरीक्षक राकेश कुमार चौकी प्रभारी कुचेसर चोपला में पुलिस बल के साथ चैटिंग कर रहे थे। तभी पुलिस व पुलिस को मुखबिर से सूचना प्राप्त हुई की दो अपराधी को बनखंडा नहर के पास ऐसे समय लगभग रात 11:45 पर लूट की योजना बना रहे हैं। पुलिस ने दोनों को मौका ए वारदात से गिरफ्तार कर लिया। जिनके कब्जे से 11 मोबाइल फोन तथा अन्य सामान प्राप्त हुआ गिरफ्तार अभियुक्त मोनू त्यागी पुत्र सुरेंद्र त्यागी ग्राम बीरपुर थाना हापुड़ जनपद हापुड़ तथा हरेंद्र कुमार पुत्र अशोक कुमार निवासी चिचोली थाना हाफिजपुर जनपद हापुड़ को गिरफ्तार किया गया है इन्हीं का एक साथी कमल पुत्र डालचंद निवासी पटना मुरादपुर थाना हापुड़ देहात फरार होने में कामयाब रहा गिरफ्तार करने वाली टीम में उप निरीक्षक राकेश कुमार थाना बाबूगढ़ जनपद हापुड़ आरक्षित हरेंद्र सिंह आरक्षित करणवीर सिंह आरक्षी ब्रह्म सिंह थाना बाबूगढ़ रहे गिरफ्तार अभियुक्तों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर जेल भेज दिया गया है।


फैक्ट्री में धमाका, 8 की मौत, 20 घायल

अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाका, आठ की मौत और 20 से अधिक घायल एसएसपी डीएम मौके पर पहुंचे लिया जायजा


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। गाजियाबाद मोदीनगर तहसील के पास स्थित बरखवां गांव में अवैध रूप से संचालित एक पटाखा फैक्ट्री में रविवार की दोपहर एक के बाद एक कई धमाके हुए। इस घटना में अभी तक आठ लोगों के मौत की पुष्टि हुई है। जबकि दर्जन भर से अधिक लोगों के घायल होने की सूचना है। मामले की जानकारी मिलने पर जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी के अलावा अन्य पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। फायर ब्रिगेड, एनडीआरएफ और पुलिस ने फैक्ट्री के अंदर से शवों को निकालने के साथ ही आग बुझाने की कवायद तेज कर दी है।" alt="" aria-hidden="true" /> 


पुलिस ने बताया कि फैक्ट्री में रविवार को भी बम बनाने का काम चल रहा था। आशंका है कि उस वक्त फैक्ट्री के अंदर करीब 30 लोग काम कर रहे थे। इसी दौरान अचानक एक धमाका हुआ और आग लग गई। देखते ही देखते फैक्ट्री में एक के बाद एक कई धमाके हुए और पूरी फैक्ट्री आग की चपेट में आ गई। अंदर काम कर रहे मजदूरों ने भागने का प्रयास तो किया, लेकिन आग की लपटों में बुरी तरह से घिर जाने की वजह से कुछ ही लोग बाहर निकल पाए। इधर, धमाके की सूचना से बरखवां ही नहीं, आसपास के गांव यहां तक कि गाजियाबाद तक दहशत की स्थिति बन गई। आनन फानन में जिला मुख्यालय से राहत टीमों को रवाना करने के बाद जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय भी वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी के साथ मौके के लिए रवाना हो गए। उधर, पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) नीरज कुमार जादौन भी दल बल के साथ मौके पर पहुंच कर राहत कार्य शुरू करा दिया। स्थानीय लोगों ने बताया कि धमाके की आवाज काफी दूर तक सुनी गई। ग्रामीणों ने बताया कि यह फैक्ट्री अवैध रूप से आवासीय क्षेत्र में करीब पांच साल से संचालित हो रही थी। इसकी पूरी सूचना पुलिस और प्रशासन को थी, बावजूद इसके इसे बंद कराने के लिए कोई प्रयास नहीं किया गया। इसी फैक्ट्री में पूर्व में काम करने वाले किसी व्यक्ति ने पुलिस में लिखित शिकायत दी थी। इसके बाद सीओ मोदीनगर और थाना प्रभारी ने फैक्ट्री आकर मुआयना किया था। यहां तक कि फैक्ट्री संचालक को हिरासत में भी लिया गया था। लेकिन देर रात उसे छोड़ दिया गया।                



गाजियाबाद डीएम ने किया पौधारोपण

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। शासन की मंशा के अनुरूप आज पूरे जनपद मे 7 लाख पौधों का हुआ पौधारोपण, शुभारंभ माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में पूरे प्रदेश में 5 जुलाई को 25 करोड़ एक ही दिन में पौधारोपण करने का कार्यक्रम संपन्न कराना सुनिश्चित किया गया था। इसी क्रम में आज जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय के द्वारा महा पौधारोपण अभियान का शुभारंभ एनडीआरएफ ग्राउंड गाजियाबाद से किया गया। इस अवसर पर जिलाधिकारी द्वारा पौधा रोपण करते हुए हरित आवरण में वृद्धि की गई। " alt="" aria-hidden="true" /> कार्यक्रम के तहत आज जिलाधिकारी के नेतृत्व में जनपद में 7 लाख पौधारोपण का कार्य वन विभाग एवं अन्य विभागों के समावेश से किया जाएगा। जिलाधिकारी अजय शंकर पाण्डेय ने सरकार के इस महा पौधारोपण कार्यक्रम को जनपद में पूर्ण रूप से सफल बनाने के उद्देश्य से विभागीय अधिकारियों एवं आमजन से आह्वान किया है कि वह पर्यावरण को स्वच्छ और सुरक्षित रखने के उद्देश्य अधिक से अधिक पौधारोपण करें ताकि हम सब एक स्वच्छ और स्वस्थ वातावरण में रह सकें। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि धरती की सुंदरता वृक्षों से ही है। उन्होंने कहा कि पौधारोपण की दृष्टि से जनपद गाजियाबाद अत्यंत संवेदनशील जनपद है और यहां पर पर्यावरण को स्वच्छ बनाने में पौधारोपण कार्यक्रम की अपनी अहम भूमिका है। अतः सभी हम सब मिलकर सरकार के इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम को बहुत ही दृढ़ता के साथ संपन्न कराएंगे। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि आम जनता व नागरिकों को पर्यावरण की सुरक्षा के लिए सचेत रहना होगा। हमें अधिक से अधिक संख्या में वृक्षारोपण करना होगा जिससे ना केवल हमारा जनपद बल्कि आसपास का वातावरण भी प्रदूषण से मुक्त होगा, जिससे वातावरण अनुकूल होगा और हम सबके स्वास्थ्य को लाभ मिलेगा। इस अवसर पर माननीय सांसद जनरल वीके सिंह, माननीय मंत्री अतुल गर्ग, जनपद के नोडल अधिकारी सेंथिल पांडियन सी, मुख्य विकास अधिकारी अस्मिता लाल, जिला वन अधिकारी सहित अन्य अधिकारीगणों के द्वारा भी वृक्षारोपण किया गया।               


थाना प्रभारी को किया लाइन हाजिर

थाना प्रभारी को किया गया लाइन हाजिर


विजय भाटी


गाजियाबाद। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक श्री कलानिधि नैथानी द्वारा जनपद में थाना प्रभारी ट्रॉनिका सिटी रमेश चंद्र राणा को तत्काल प्रभाव से पुलिस लाइन स्थानांतरित किया गया है जबकि 1 साल से अधिक से मुरादनगर पर तैनात थाना प्रभारी मुरादनगर ओपी सिंह को थाना प्रभारी ट्रॉनिका सिटी तथा जनपद में गैर जनपद से नव नियुक्ति पर आए निरीक्षक अमित कुमार को थाना प्रभारी मुरादनगर नियुक्त किया गया है ।" alt="" aria-hidden="true" /> 


निरीक्षक रमेश चंद राणा के प्रभारी निरीक्षक थाना ट्रोनिका सिटी नियुक्ति के दौरान एक अभियुक्त जिसका आपराधिक इतिहास था को नशीले पदार्थ के साथ रंगे हाथ पकड़े जाने के उपरांत भी बिना कोई विधिक कार्यवाही अमल में लाए हुए अपनी स्वेच्छा से थाने से छोड़ दिए जाने के संबंध में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को गोपनीय सूचना प्राप्त हुई थी जिसके आधार पर पुलिस अधीक्षक ग्रामीण से विस्तृत विभागीय जांच करवाई गई आरोप इत्यादि में पुलिस अधीक्षक ग्रामीण द्वारा की गई विभागीय जांच में दोषी पाए जाने पर रिपोर्ट वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को सौंपी इसे गंभीरता से लेते हुए इंस्पेक्टर को लाइन हाजिर करते हुए विधिक कार्रवाई आगे बढ़ाई गई।



अवैध उगाही में सभासद पर मामला दर्ज

अवैध उगाही करने वाले एम फातिमी व सभासद कांग्रेस अब्दुल गफ्फार पर लोनी थाने में हुआ मुकदमा दर्ज


सचिन विशोरिया


गाजियाबाद। लोनी पुलिस ने पीड़ित की शिकायत पर दर्ज किया अवैध उगाही व रंगदारी मांगने वाले व्यक्ति में नामक व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज। यहां आपको बता दें कि एम फातिमी जो कि लोगों की फर्जी शिकायतें एनजीटी व अन्य विभागों में कर दवाब बनाकर मुकदमा दर्ज कराने व जेल भेजने के नाम पर अवैध रंगदारी मांगने का काम करता है। जिसको लेकर गनौली निवासी ने लोनी थाने में अपनी शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने उस पर मुकदमा दर्ज कर लिया है बताया जा रहा है कि वह व्यक्ति पहले भी लोनी नगर पालिका के अधिकारियों से महीना वसूलता था। वही अवैध उगाही के मामले में कांग्रेस के सभासद अब्दुल गफ्फार पर लोनी पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। यहां आप की जानकारी बताना चाहते हैं कि पहले भी अब्दुल गफ्फार के पैसे मांगने के मामले में वीडियो वायरल हो चुके हैं। दोनों ही मामलों में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दिया है व गिरफ्तारी का प्रयास जारी है।


ऑनलाइन विशेष जागरूकता अभियान

बेहतर राष्ट्र निर्माण में निभाएं मौलिक कर्तव्य विशेष, दिनचर्या में अधिकारों के साथ-साथ मौलिक कर्तव्यों का भी करें समावेशः जगत सिंह 


रतन सिंह चौहान
पलवल। हरियाणा राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण पंचकुला के निर्देशन में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण पलवल के तत्वावधान में जिला एवं सत्र न्यायाधीश एंव चेयरमेन श्री चंद्रशेखर व मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एंव सचिव श्री पीयूष शर्मा के मार्गदर्शन में संविधान में वर्णित मौलिक कर्तव्यों के बारे में विशेष ऑनलाइन जागरूकता अभियान के अन्तर्गत जागरूकता फैलाई जा रही है, जिसका उद्देश्य सामाजिक दूरी कायम रखकर सभी नागरिकों को मौलिक कर्तव्यों के बारे में जागरूक करना है, ताकि हम आज अपने मौलिक कर्तव्यों का पालन करके इस कोरोना महामारी से बचाव करते हुए, अपने देश के हर नागरिक की सुरक्षा सुनिश्चित कर सकें। आज उक्त अभियान का आॅनलाइन संचालन पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत द्वारा गांव जोधपुर के ग्रामीणों को व्हाट्स ऐप के माध्यम से जागरूक किया।                  
पैनल अधिवक्ता जगत सिंह रावत ने ग्रामीणों को आॅनलाइन बताया कि यदि प्रत्येक व्यक्ति केवल अपने अधिकारों का ही ध्यान रखे और दूसरों के प्रति अपने मौलिक कर्त्तव्यों का पालन न करे तो शीघ्र ही किसी के लिए भी अधिकार नहीं रहेंगे। किसी भी समाज का मूल्यांकन करते हुए, केवल अधिकारों पर ही ध्यान नहीं दिया जाता है, वरन् यह भी देखा जाता है कि नागरिक अपने कर्तव्यों का पालन करते हैं या नहीं।  राष्ट्र के बेहतर निर्माण, तरक्की व समाज की सुदृढ़ और स्वच्छ आधारशिला और नागरिकों की सुरक्षा की नींव को रखने में मौलिक कर्तव्य सहायक होते हैं। आज बेहतर राष्ट्र निर्माण के लिए संप्रभुता तथा अखंडता की रक्षा, देश की प्रगति और राष्ट्रीय सेवा में सहयोग, प्राकृतिक तथा सार्वजनिक संपत्ति का संरक्षण, लोकतंत्र को सफल बनाने में सहायता, संस्कृति की रक्षा और संरक्षण, विश्व बंधुत्व की भावना का विकास, स्त्रियों का सम्मान जैसे विशेष मौलिक कर्तव्यों का पालन हर नागरिक को करना चाहिए।
हमारे देश में कोविड - 19 कोरोना महामारी की वजह से लॉकडाउन चला था और लोगों ने बड़े ही धैर्य से लाॅकडाउन की शर्तों को पूरा किया और अब सरकार ने लॉकडाउन को सशर्त खोल दिया है, जिसमें नागरिकों के लिए कुछ नियम व शर्तें बनाई हुई हैं, जिनका पालन करना हर नागरिक की मौलिक जिम्मेदारी है, ताकि इस महामारी के बढते प्रकोप को नियंत्रित करके, फैलने से रोका जा सके और कोरोना से जंग को जीता जा सके। संविधान के अंतर्गत हमें भाईचारा कायम रखते हुए, सभी लोगों को मौलिक कर्तव्यों और उक्त महामारी से बचाव के उपायों के बारे में जागरूक करना होगा, ताकि समाज में फैल रही किसी भी प्रकार की अव्यवस्था को मिलकर सुलझाया जा सके। । कोरोना संक्रमण से बचने के लिए हमें बार-बार साबुन या सेनिटाइजर से हाथ साफ़ करने, घर से बाहर निकलते ही मास्क का प्रयोग, सामाजिक दूरी और बाहर से आने वाले या किसी संक्रमित व्यक्ति की जानकारी प्रशासन को देने जैसे विभिन्न कर्तव्यों का पालन करना चाहिए, ताकि हम कोरोना से अपने देश की जनता को सुरक्षित रख सकें। हमें निस्वार्थ भाव से राष्ट्रीय सेवा के लिए मौलिक कर्तव्यों के निर्वहन के लिए आगे आना होगा और धैर्य का परिचय देते हुए, एक दूसरे की भावनाओं की कद्र भी करनी होगी। इसके अलावा हमें गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले लोगों, वरिष्ठ नागरिकों, बच्चों का विशेष ख्याल करना होगा। सरकारी वित्तीय सहायता या राशन वितरण के बारे में जागरूक होकर, लोगों की सुविधाओं का ध्यान रखना होगा। यदि हमारे आस-पास कहीं भी कोई भूखा देखें या किसी को उचित राशन वितरण नहीं हो रहा या किसी जरूरतमंद को वित्तीय सहायता का लाभ नहीं मिल रहा है या जन उपयोगी सुविधाओं से संबंधित कोई भी समस्या हो रही हो तो जिला उपायुक्त कार्यालय की हेल्पलाइन या प्राधिकरण की हेल्पलाइन नंबर 01275 298003 पर संपर्क करके मुफ़्त सलाह प्राप्त कर सकते हैं।               


सीएम ने वीसी के द्वारा किया उद्घाटन

मुख्यमंत्री ने विडियो कान्फ्रेसिंग के माध्यम से पलवल की ग्राम पंचायत टहरकी में नवनिर्मित पार्क व व्यायामशाला का उद्घाटन किया।
  
रतन सिंह चौहान
पलवल। हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने रविवार को चंडीगढ़ से विडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से पलवल जिला के खंड पृथला की ग्राम पंचायत आमरू व खंड पलवल की ग्राम पंचायत टहरकी में नवनिर्मित पार्क व व्यायामशाला का उद्घाटन किया। टहरकी गांव में आयोजित समारोह में विधायक दीपक मंगला, जगदीश नायर, नयनपाल रावत, प्रवीण डागर, डी.सी. नरेश नरवाल, ए.डी.सी. वत्सल वशिष्ठ, एस.डी.एम. कंवर सिंह सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे।
प्रदेशवासियों को गुरु पूर्णिमा की बधाई देते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हमारे देश के इतिहास में गुरुजनों ने हमेशा मनुष्य के मानसिक शारीरिक व बौद्धिक विकास को महत्व दिया है। उसी परंपरा को आगे बढ़ाते हुए राज्य सरकार योग तथा आयुर्वेद को बढ़ावा दे रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की सोच के अनुसार प्रदेश में वैलनेस सेंटर बनाए जाएंगे। ये सेंटर इन्हीं पार्क व योगशालाओं में बनाए जाएंगे। 
उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहले चरण में एक हजार से अधिक व्यामशालांए खोलने का लक्ष्य है, जिनमें से अब तक 511 पूरी तरह से चालू हो गई है। इस वर्ष इन योजनाओं पर प्रदेश में 250 करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है। दूसरे चरण में जहां-जहां पंचायतें जमीन मुहैया कराएंगी, उसके अनुसार वहां पर पार्क व व्यामशालाएं बनाई जाएंगी, जिनमें वैलनेस सेंटर भी स्थापित किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पंचायती राज विभाग द्वारा बनाई गई इन सभी व्यामशालाओं की देखरेख का जिम्मा अब जिला परिषद को सौंपा जाएगा। वहीं आयुष विभाग यहां पर वैलनेस सेंटर में जरूरत अनुसार दवाइयों का प्रबंध करेंगा तथा महत्वपूर्ण जड़ी-बूटियां भी इन पार्क में लगाई जाएंगी।
उन्होंने प्रदेश के सभी नागरिकों से आह्वान किया कि वे योग को अपने जीवन का अंग बनाएं। व्यक्ति के पास तीन संपत्तियों हेल्थ, वेल्थ व कैरेक्टर का सबसे अधिक महत्व है। जब प्रदेश के युवाओं के पास यह तीनों चीजें होंगी तो वे देश के प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत बनाने के सपने को साकार कर सकेंगे।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि पिछले कई वर्षों से गांवों में खेल सुविधाएं बढ़ाने की मांग हो रही थी, जिसके मद्देनजर पंचायती राज विभाग द्वारा यह काम शुरू किया गया है। आने वाले समय में ग्रामीण आंचल में खेल के मामले में और भी अधिक इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि अब तक देश में खेलों के मामले में हरियाणा का जीत का हिस्सा एक-तिहाई का रहा है, जिसे बढ़ाकर एक-पांच का करना है।
उपायुक्त नरेश नरवाल ने इस मौके पर बताया कि पलवल जिला में 47 व्यायामशालाएं मंजूर हुई है, जिनमें 17 व्यायामशालाएं पूर्ण हो चुकी है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने आज जिन दो व्यायामशालाओं गांव टहरकी व आमरू का उद्घाटन किया है उन पर लगभग 60 लाख रुपये का खर्च हुआ है। श्री नरवाल ने बताया कि जो पंचायत 2 से 4 एकड़ जमीन देगी वहां आयुष केन्द्र व हर्बल पार्क  विकसित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री की सोच है कि प्रदेश का हर नागरिक पूर्ण रूप से स्वस्थ रहे। इसी बात के मद्देनजर जिला में खेलो के संबंध में ढांचागत सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं। डीसी ने कहा कि कोरोना महामारी के लिए भी केवल एक ही उपाय है कि हम अपने आप को पूर्ण रूप से स्वस्थ रखें। उन्होंने कहा कि हम सभी को प्रतिदिन प्रात एक घंटा योग को जरूर देना चाहिए। जब हमारा शरीर स्वस्थ रहेगा तभी हमारी काया निरोगी रहेगी।
इस अवसर पर पलवल विधानसभा क्षेत्र के विधायक दीपक मंगला, होडल के विधायक जगदीश नायर, हथीन के विधायक प्रवीण डागर, पृथला के विधायक नयनपाल रावत, भाजपा जिलाध्यक्ष जवाहर सिंह सौरोत, उपायुक्त नरेश नरवाल तथा अतिरिक्त उपायुक्त वत्सल वशिष्ठï ने व्यायामशाला परिसर में नीम, बरगद, जामुन, पापडी के पौधे लगाकर पौधारोपण भी किया।
कार्यक्रम में जजपा जिलाध्यक्ष सुरेंद्र सौरोत, जिला परिषद की चेयरपर्सन आशावती, पलवल निगरानी समिति के चेयरमैन मुकेश सिंगला, मार्किट कमेटी के चेयरमैन रणवीर सिंह मनोज, गांव टहरकी के सरपंच कर्मचंद, आमरू के सरपंच ओमबीर, धतीर के सरपंच सोहनपाल, बृजेश अटोंहा सहित जिला पार्षद एवं पंच सरपंच, जिला सूचना एवं विज्ञान अधिकारी डी.पी. कुलश्रेष्ठï, बीडीपीओ उपमा अरोड़ा सहित संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।          


शौचालय निर्माण में धांधली पूर्ववत जारी

जहाँ एक तरफ लाकडाउन में अनलॉक 2 घोषित हुआ वही सुरु हुई धांधली बाजी


कड़ा कौशाम्बी। सिराथू तहसील के ब्लाक कड़ा अंतर्गत ग्राम औरेनी में शौचालय का निर्माण कार्य जोरो से चल रहा तो वही सैकड़ो शौचालय यूँ बन गए। पर उनकी गुणवत्ता पर सवाल खड़े हो रहे है सेक्रेट्री प्रधान व विभागीय लोगो के मिली भगत से रद्दी से रद्दी ईट व समग्री का इस्तेमाल निर्माण में किया जा रहा आखिर किसके इशारे पर बेखौफ़ हो कर सेक्रेटरी काम करवा रहे है ईटो को देख सबूत ऊपर फोटो में दरसरता हुआ देख सकते है।


जानकारी के मुताबिक कड़ा ब्लाक के औरेनी में शौचालय निर्माण में जमकर धांधली हो रही है। यही वजह है कि शौचालय बनाने के बाद भी लोग बाहर खुले में ही शौच जाना पसन्द करते है। क्योंकि जरूरत के अनुसार शौचालय नही बन रहे है अब शौचालय निर्माण में इस धांधली पर क्या कार्यवाही होती है यह भविष्य के गर्त में है।


 ज्ञानू सोनी


पौधरोपण महाकुंभ, 1 वृक्ष रोपण करें

वृक्षारोपण महाकुंभ 2020 में रोपे गए हजारों पौधे


वृक्ष लगाओ -जीवन बचाओ -अनिल कुमार


अझुवा कौशाम्बी। नगर पंचायत अझुवा में  वृक्षारोपण महाकुंभ 2020 के उपलक्ष्य में बहुत ही उत्साह से पौधा रोपण किया गया सुबह से ही नगर पंचायत कर्मी पौधरोपण के लिए गड्ढा खोदने लगे ,पौधा रोपण करने के लिए नगर पंचायत कर्मी नर्सरी से लाये 1200 पौधों में से 1050 पौधों का नगर पंचायत के वार्ड नं 1 भौंतर में विभिन्न खाली पड़ी जगहों जैसे रामलीला मैदान नगर पंचायत प्रशासन द्वारा निर्मित वार्ड नं 1 भौंतर के शौचालय  के आसपास सड़क के किनारे पड़ी खाली भूमि पर भी पौध रोपण किये गए।


चेयरमैन अनिल कुमार ने बताया की  हमें जीवन भर अपने पर्यावरण का ध्यान रखना चाहिए। यह तभी किया जा सकता है जब हम अपनी आँखें खुली रखेंगे और अपने और पर्यावरण के भीतर कुछ सकारात्मक बदलाव लाने के लिए सक्रिय रहेंगे l हमें अपने बच्चों को इस मुद्दे पर जागरूक करना चाहिए ताकि वे भविष्य में इस अभियान के सक्रिय एजेंट बन सकें। औद्योगीकरण, वनों की कटाई, तकनीकी विकास, ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण आदि के कारण हमारे स्वस्थ पर्यावरण की स्थिति दिन-प्रतिदिन गिरती जा रही है, यह जीवित प्राणियों और पर्यावरण के स्वास्थ्य को बहुत बुरी तरह से प्रभावित करती है।
पर्यावरण को बचाना हमारी ड्यूटी नहीं बल्कि हम सभी का कर्तब्य है l


प्रकृति का संरक्षण एवं संवर्धन जीव जगत के लिए बेहद ही अनिवार्य है प्रकृति पर ही पर्यावरण निर्भर करता है गर्मी सर्दी वर्षा आदि सब प्रकृति के संतुलन पर निर्भर करते हैं यदि प्रकृति संतुलित होगी तो पर्यावरण भी संतुलित होगा असंतुलन बढ़ने पर अकाल,बाढ़, भूकंप आदि अनेक प्रकार की विघटन करी आपदाएं आती रहेंगी प्राकृतिक आपदाओं से बचने के लिए पेड़ों का होना बहुत जरूरी है पेड़ ही प्रकृति के आधार हैं इसलिए प्रत्येक मानव को जगत की सुरक्षा को दया देते हुए पौधरोपण करना चाहिए भले ही एक ही पौधा क्यो न हो!इस अवसर पर  सत्येंद्र कुशवाहा  विमल मौर्य ,पंकज मौर्य मोनी कुशवाहा सहित नगर पंचायत के कर्मचारी उपस्थिति रहे l


सन्तलाल मौर्य 


मानक के विरुद्ध चिकित्सा, जी का जंजाल

सुप्रीमकोर्ट के निर्देश का स्वास्थ्य विभाग नही कर पा रहा पालन


भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा उजागर पश्चिम सरीरा से झोलाछाप डॉक्टरों के आतंक से परेशान मासूम


पश्चिम सरीरा कौशाम्बी। जिले में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का भी पालन होता नहीं दिख रहा है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्यवाही करने में हिचकिचा रहे हैं जिससे गलत इलाज के चलते आए दिन मरीजों की मौत हो रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा झोलाछाप डॉक्टरों पर ऑपरेशन के लिए टीम गठित की गई है लेकिन झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्यवाही के लिए गठित टीम द्वारा भी कार्यवाही नहीं हो पा रही है जिससे झोलाछाप डॉक्टरों के धंधे बेखौफ चल रहे हैं।


जिले में झोलाछाप डॉक्टर के नाम पर एक मेज कुर्सी लगाकर मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टर तमाम मिल जाएंगे। लेकिन एक डॉक्टर पश्चिम सराय इलाके का वर्तमान स्थिति में भी सुबह से ही साइकिल में झोला टांग कर गांव-गांव घूमकर इलाज कर रहा है। अब जब सुप्रीम कोर्ट के निर्देश का पालन जिले में नहीं हो रहा है तो कैसे चौपट स्वास्थ्य व्यवस्था सुधरेगी यह स्वास्थ्य महकमे पर बड़ा सवाल है।


पश्चिम शरीरा क्षेत्र के चंदेलन का डेरा गांव में एक ढोंगी डॉक्टर मरीजो और उनके परिजनों को अपने जाल में फंसा कर इलाज के नाम पर मोटी रकम वसूलते है। यह चिकित्सक अनट्रेंड अकुशल अनराजिस्टर्ड होने के बाद स्वास्थ्य विभाग की मेहरबानी पर मरीजो का इलाज कर उन्हें जिंदगी कम और मौत अधिक दे रहा है। मरीजो के परिजनों द्वारा कई बार लिखित शिकायत देने के बाद भी उक्त झोला छाप डॉक्टर पर कोई कार्यवाही नहीं की गई है। जिससे वह मरीजो की जिंदगी के साथ खेलवाड़ कर मौज कर रहा है। मरीजो की जिंदगी से खेलने वाले उक्त झोलाछाप डॉक्टर का नाम जितेश कुमार बताया जाता है। यह ब्यक्ति पश्चिम सरीरा से 2 किलोमीटर दूरी चन्देलन का डेरा का रहने वाला है सीएमओ से ग्रामीणों ने कहा कि इस डॉक्टर पर उचित कार्रवाई कराएं।


गब्बर सिंह 


आजमगढ़ में मिलींं 20 की रिपोर्ट पॉजिटिव

सुनील श्रीवास्तव


आजमगढ़ । मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ0 ए0के0 मिश्रा ने बताया कि 07 कोरोना पाजीटिव मरीज के स्वस्थ होने के उपरान्त डिस्चार्ज किये गये। उन्होने बताया कि कोरोना संक्रमण की जांच हेतु पूर्व पे्रषित सैम्पल्स मंे से 20 व्यक्तियों की जाॅच रिपोर्ट पाजीटिव प्राप्त हुई है


जिसमे 01 व्यक्ति ग्राम चन्देवारा, बेवहरा लालगंज, 01 व्यक्ति रूदरी रानी की सराय, 01 व्यक्ति सुम्भी रानी की सराय, 01 व्यक्ति मट्टिया टोला मऊ, 01 व्यक्ति जमीरपुर मेंहनगर, 01 व्यक्ति हसनपट्टी अजमतगढ़, 01 व्यक्ति नवोदय नगर अजमतगढ़, 03 व्यक्ति बिलारमऊ फूलपुर, 04 व्यक्ति बहौद्दीनपुर पवई, 02 व्यक्ति कुढ़ई सीएचसी महराजगंज, 01 व्यक्ति बरदह लालगंज, 01 व्यक्ति कोट मोहल्ला सदर, 01 व्यक्ति कालीचैरा रैदोपुर सदर के रहने वाले हैं तथा 01 व्यक्ति रानी की सराय का रहने वाला है, जो कलकत्ता से आया था वह कलकत्ता से ही कोरोना पाजीटिव था, वह सीधा जिला चिकित्सालय सदर में जांच के लिए गया, उसके बाद उसे पीजीआई चक्रपानपुर में ईलाज के लिए भर्ती कराया गया है।
सीएमओ ने बताया कि संबंधित तहसीलों से रिपोर्ट प्राप्त होने के उपरान्त कंटेनमेंट जोन घोषित होगा।
सीएमओ ने बताया कि अब तक कुल 281 कोरोना पाजीटिव मरीज पाये गये हैं। वर्तमान समय में 84 एक्टिव केस हैं, 190 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं तथा 07 मरीज की मृत्यु हो चुकी है।               


आकाशीय बिजली से 11 मवेशियों की मौत

कुशल चोपड़ा


बीजापुर। भोपालपटनम तहसील के ग्राम पंचायत वडला में देर शाम आकाशीय बिजली गिरने से 11 पशुओं की एक साथ मौत हो गई। इनमें 7 गाय और 4 बैल शामिल हैं। बताया गया कि ग्राम पंचायत वडला के आश्रित ग्राम पोलेम निवासी मड़े कापा पिता जोगा के पशुओं की एक साथ मृत्यु हुई है। ग्राम पटेल मड़े शुकरैया द्वारा सूचना प्राप्त होते ही क्षेत्रीय जिला पंचायत सदस्य बसंत राव ताटी ने सर्वप्रथम तत्काल इस घटना की सूचना भोपालपटनम के तहसीलदार शिवनाथ बघेल और थाना प्रभारी वीरेंद्र चंद्रा को दी। जिपं सदस्य खुद घटनास्थल पर पहुंच कर ग्राम पंचायत वडला के सरपंच मड़े भीमसेन और पटेल मेड शुकरैया से घटना की जानकारी लिए। मौके पर पहुंचे हल्का पटवारी जितेंद्र गंधरला ने भी घटनास्थल का मुआयना कर उपस्थित ग्रामीणों के समक्ष पंचनामा तैयार किया है। जिला पंचायत सदस्य बसंत राव ताटी ने पीड़ित किसान मड़े कापा को अतिशीघ्र मुआवजा राशि दिलाने की बात कही। विधायक  विक्रम शाह मंडावी ने उक्त घटना पर अफसोस जताते हुए पीड़ित किसान को हर संभव मदद दिलाने की बात कही है।                


कोविड नियंत्रण के लिए विशेष अभियान

श्रावस्ती। कोविड-19 पर प्रभावी नियंत्रण हेतु सरकार के निर्देश पर आगामी 05 जुलाई से 15 जुलाई तक विशेष अभियान संचालित कर टीमों द्वारा घर-घर जाकर कोविड-19 के संभावित लाक्षाणिक व्यक्तियों की जाॅंच कर पहचान की जायेगी। संवेदीकरण करने के साथ-साथ कन्टेनमेन्ट जोन में एस.ए.आर.आई. के रोगियो का भी गहन सर्वेक्षण किया जायेगा। सर्वेक्षण के दौरान आई.एल.आई. एवं एस.ए.आर.आई. सहित अन्य गंभीर रोगों से ग्रसित व्यक्तियों को भी सूचीबद्व करने के साथ ही उनके इलाज हेतु आवश्यक कार्यवाही की जायगी। उक्त विचार कलेक्ट्रेट सभागार में कोविड-19 जिला स्तरीय टास्क फोर्स बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिलाधिकारी सुश्री यशु रूस्तगी ने व्यक्त किया। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि इस महामारी से बचाव हेतु मास्क एवं सोशल डिस्टेन्सिंग महत्वपूर्ण कदम है ,इसलिए यह एहतिहात सभी जनपदवासी अनिवार्य रूप से अपनाये ताकि इस बीमारी के संक्रमण को और फैलने से रोका जा सके।


सर्वेक्षण कार्य में लगी टीमे भी खुद एहतिहात बरते तथा मास्क लगाने, सोशल डिस्टेसिंग अपनाने एवं बार-बार साबुन से हाथ धुलने हेतु लोगों को प्रेरित भी करें। जिलाधिकारी ने बताया है कि जिले कि सभी ग्राम पंचायतों, नगर पंचायत एवं नगरपालिका के अन्तंर्गत स्थित सभी घरों का हाऊस टू हाऊस सर्वे होगा इस सर्वे कार्य हेतु टीमों का गठन स्वास्थ्य विभाग द्वारा कर दिया गया है, सर्वेक्षण टीम में आशा और आंगन कार्यक्रत्री को शामिल किया गया है,जो घर-घर जाकर कोविड-19 रोग हेतु सर्वे करेगी और प्रपत्र/टेलीसीट पर भर कर प्रतिदिन अपनी रिपोर्ट सम्बन्धित चिकित्साधिकारी को देगी। सर्वे के दौरान इनके द्वारा भ्रमण किये गये घरों की संख्या, घर में कुल व्यक्यिों की संख्या, घर में लक्षण युक्त व्यक्तियों की संख्या एवं लम्बी बीमारी से ग्रसित व्यक्तियों की संख्या का पूरा ब्यौरा दर्ज किया जायेगा।जिलाधिकारी ने मुख्य चिकित्साधिकारी एवं जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिया है कि आपस में समन्वय बनाकर कोविड़-19 के ग्रामीण/नगरीय क्षेत्र के सर्वे कर्ता टीम को प्लस आक्सीमीटर, थर्मामीटर माॅक्स एवं सेनेटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित करेगे तथा टीम को भी सर्वे के दौरान इस बीमारी से बचाव हेतु उन्हें भी सर्तकता बरतने हेतु सुरक्षा उपाय भी पहले से ही बता देगे ताकि सुरक्षित ढ़ंग से वे सर्वे कार्य को संपादित कर सकें। जिलाधिकारी ने कहा कि यह सर्वे वास्तविक एवं समग्र रूप में समयान्तर्गत पूर्ण कर लिया जाए ताकि हम सब कोविड-19 के संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण में कामयाब हो सकें।


इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी अवनीश राय, प्रभागीय वनाधिकारी ए0पी0यादव, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ए0पी0भार्गव, अपर पुलिस अधीक्षक बी0सी0दूबे, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा0 राम गोपाल, जिला पंचायत राज अधिकारी किरन, जिला कृषि अधिकारी आर0पी0राना, जिला कार्यक्रम अधिकारी आशा सिंह, नेहरू युवा केन्द्र की जिला समन्वयक कोमलं, एस0एम0ओ0 डा0 प्रिया बंसल, सहित सभी प्रभारी चिकित्साधिकारीगण उपस्थित रहे।


रिपोर्ट मोहित गुप्ता 


कोरोना से जीतने वालो की संख्या 4 लाख

नई दिल्ली। देश में कोविड-19 संक्रमण से मुक्त होने वाले मरीजों की संख्या अब चार लाख के पार पहुंच गई है, जिससे रिकवरी दर 60.77 प्रतिशत हो गई है।


केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने रविवार को बताया कि देश में फिलहाल कोरोना संक्रमण के 2,44,814 सक्रिय मामले हैं और 4,09,082 कोरोना संक्रमित मरीज अब तक पूरी तरह ठीक हो चुके हैं, जिससे संक्रमण मुक्ति दर 60.77 प्रतिशत हो गयी है। पिछले 24 घंटे में 14,856 कोरोना संक्रमित रोगमुक्त हुए हैं। संक्रमण मुक्त मरीजों और सक्रिय मामलों का फासला बढ़कर अब 1,64, 268 हो गया है।


हालांकि, पिछले तीन दिन से देश में प्रतिदिन 20,000 से अधिक व्यक्ति कोरोना संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं । कोरोना संक्रमितों की पहचान के लिए जांच सुविधा उपलब्ध कराने वाले लैब की संख्या भी लगातार बढ़कर 1,100 हो गयी है जिससे नमूना जांच की गति भी तेजी हुई है। देश में अब तक 97,89,066 नमूनों की जांच की जा चुकी है। देश में सर्वाधिक 85.9 प्रतिशत रिकवरी दर चंडीगढ़ की है। इसके बाद लद्दाख 82.2 प्रतिशत, उत्तराखंड 80.9 प्रतिशत, छत्तीसगढ़ 80.6 प्रतिशत, राजस्थान 80.1 प्रतिशत, मिजोरम 79.3प्रतिशत, त्रिपुरा 77.7 प्रतिशत, मध्यप्रदेश 76.9 प्रतिशत, झारखंड 74.3 प्रतिशत और बिहार की रिकवरी दर 74.2 प्रतिशत है।


राज्य में बिजली-पानी की सब्सिडी जारी

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने फैसला लिया कि फ्री दी जाने वाली 200 यूनिट बिजली की सुविधा जारी रहेगी। दिल्ली सरकार के मुताबिक लॉकडाउन से जिस तरह सरकार की आमदनी कम हुई है, उसी तरह से आम जनता पर भी बोझ पड़ा है। यही कारण है बिजली वितरण कंपनियों की सब्सिडी पर होने वाले खर्च की भरपाई दिल्ली सरकार करेगी। इसी प्रकार पानी बिल पर मिलने वाली छूट भी बरकरार रहेगी।


दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने पानी के बिलों पर अगले तीन महीने तक रियायत देने का फैसला किया है। दिल्ली जल बोर्ड द्वारा दी जाने वाली यह रियायत 30 सितंबर 2020 तक लागू होगी। दिल्ली जल बोर्ड ने इस विषय पर एक आधिकारिक आदेश पारित किया है। दिल्ली सरकार के मुताबिक सरकार को मिलने वाले रेवेन्यू में भारी कमी आई है। बावजूद इसके राजधानी में पानी-बिजली पर सब्सिडी जारी रखी जाएगी। बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा मिलती रहेगी। जिन योजनाओं को दिल्ली सरकार मंजूरी दे चुकी है, उन्हें भी चालू रखा जाएगा।


दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा, “पिछले साल पहली तिमाही यानी अप्रैल से जून के तीन महीनों में दिल्ली सरकार को टैक्स के रूप में सात हजार करोड़ रुपये मिले थे। लेकिन इस साल यह कम होकर 2,500 करोड़ रुपये ही रह गए हैं। टैक्स कलेक्शन कम जरूर है, लेकिन सब्सिडी जारी रखने की बड़ी वजह यह है कि आम दिल्लीवालों का जो पैसा बचेगा, वे उसे खर्च भी करेंगे।” बीते मंगलवार को दिल्ली जल बोर्ड ने एक आदेश जारी किया है। इसी आदेश पर दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष राघव चड्ढा ने कहा, “कोरोना महामारी के कारण पानी के बिल संबंधी छूट स्कीम को तीन महीने के लिए बढ़ाया जा रहा है। यह स्कीम 30 सितंबर 2020 तक बढ़ा दी गई है। लॉकडाउन के कारण जो व्यक्ति इस स्कीम का लाभ नहीं ले सके थे वह सभी लोग अब 30 सितंबर तक इस योजना का लाभ ले सकते हैं।”            


10 हजार बेड वाले सेंटर का उद्घाटन

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने रविवार को दक्षिण दिल्ली में छत्तरपुर के राधा स्वामी सत्संग ब्यास परिसर में 10,000 बेड की क्षमता वाले सरदार पटेल कोविड-19 सेंटर का उद्घाटन किया। यह सुविधा लगभग 20 फुटबॉल मैदानों के आकार के क्षेत्र में फैली हुई है और प्रत्येक में 50 बेड के साथ 200 प्रांगण हैं।


भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) इस सुविधा को संचालित करने वाली नोडल एजेंसी है। आईटीबीपी के महानिदेशक सुरजीत सिंह देसवाल सेंटर के उद्घाटन के समय उपस्थित थे। सेंटर में हल्के लक्षणों वाले और जिन में कोरोना के लक्षण नहीं है उन मरीजों का इलाज होगा, बिना लक्षणों वाले कोरोना संक्रमित जो मरीज किसी कारणवश घर पर आइसोलेशन में नहीं रह सकते, उनका भी इलाज होगा। राधा स्वामी सत्संग ब्यास के स्वयंसेवक आईटीबीपी और दिल्ली सरकार को इस तरह की सुविधा के संचालन में मदद करेंगे। दिल्ली के मुख्य सचिव विजय कुमार देव ने शनिवार को केंद्र का दौरा किया था। एडिशनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (दक्षिण) अरुण गुप्ता ने आईएएनएस को बताया, “मरीजों का पहला समूह रविवार को केंद्र में आएगा।”

उपराज्यपाल ने इस अवसर पर एक सभा को संबोधित किया और सुविधा स्थापित करने के लिए किए गए प्रयासों की सराहना की। बैजल ने कहा, “आईटीबीपी, दिल्ली प्रशासन, डेरा के अनुयायियों और अन्य अधिकारियों के संयुक्त प्रयासों के कारण ही इस बड़ी सुविधा की स्थापना संभव हो सकी है। यह निश्चित रूप से राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के समर्पित अस्पतालों में मरीजों की भीड़ को कम करने में मदद करेगी।”


हाल ही में, एनजीओ ‘एक प्रयास’ ने सुविधा के मरीजों के लिए सैनिटाइजेशन किट दान किए। डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (दक्षिण) ने रिलायंस जियो से अनुरोध किया कि वह केंद्र में डेटा कनेक्टिविटी को बढ़ाकर इस प्रयास का समर्थन करे। आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि दूरसंचार दिग्गज ने अनुरोध का सकारात्मक जवाब दिया है और कंपनी की एक टीम ने स्थिति का जायजा लेने के लिए केंद्र का दौरा किया था। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से रविवार को जारी आंकड़ों में कहा गया कि दिल्ली में 2,505 नए मामलों के साथ कोरोना के कुल मामले 97,200 हो चुके हैं। इनमें से 25,940 सक्रिय मामले हैं और 3,004 लोगों की मौत हो चुकी है।             


कुत्ते-घोड़ो की प्रजाति पर शोध करें

नितिन शर्मा


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वैज्ञानिकों से कुत्तों और घोड़ों की स्वदेशी प्रजातियों पर अनुसंधान की आवश्यकता पर बल दिया है। मोदी ने शनिवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कृषि अनुसंधान, विस्तार और शिक्षा (आईसीएआर) की प्रगति की समीक्षा के दौरान मवेशियों, भेड़ और बकरियों की नई प्रजातियों के विकास की समीक्षा भी की और कुत्तों एवं घोड़ों की स्वदेशी प्रजाति पर अनुसंधान पर जोर दिया।


उन्होंने पशुओं के पैरों और मुंह से संबंधित बीमारियों के लिए टीकाकरण पर एक केन्द्रित अभियान पर भी जोर दिया। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के महानिदेशक एवं कृषि अनुसंधान एवं विस्तार विभाग में सचिव डॉ. त्रिलोचन महापात्रा ने प्राथमिकताओं, प्रदर्शन और विभिन्न चुनौतियों से निपटने की तैयारियों पर प्रस्तुतीकरण दिया। प्रधानमंत्री ने पोषण मूल्य को समझने के लिए घास और स्थानीय चारा फसलों पर अध्ययन की जरूरत पर जोर दिया।

उन्होंने पौष्टिक औषधीय पदार्थों के व्यावसायिक प्रयोग की संभावनाओं को खंगालने के अलावा मृदा स्वास्थ्य पर समुद्री खरपतवार नाशक के उपयोग की आवश्यकता को रेखांकित किया है। मोदी ने कृषि उपकरणों की पहुंच आसान बनाने पर जोर देते हुए कहा कि खेत से बाजार तक के लिए ढुलाई सुविधाएं सुनिश्चित की जानी चाहिए। इस संबंध में कृषि, सहकारिता और किसान कल्याण विभाग ने ‘किसानरथ’ ऐप पेश किया है। प्रधानंमत्री ने क्लस्टर आधारित रणनीति पर जैविक और प्राकृतिक कृषि प्रक्रियाओं को अपनाने की आवश्यकता को रेखांकित किया। उन्होंने कृषि एवं सहायक क्षेत्रों में नवाचार और तकनीक का उपयोग सुनिश्चित करने के लिए स्टार्टअप्स और कृषि उद्यमियों को प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने किसानों की मांग पर सूचना उपलब्ध कराने में सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग की आवश्यकता को रेखांकित किया। उन्होंने चिह्नित समस्या के समाधान और टूल्स तथा उपकरणों की डिजाइन संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिए वर्ष में दो बार हैकॉथन का आयोजन किए जाने का निर्देश देते हुए कहा कि इससे कृषि कामगारों में महिलाओं की बड़ी संख्या को देखते हुए खेती में काम के बोझ को कम किया जा सकता है।


उन्होंने सेहतमंद खुराक सुनिश्चित करने के लिए ज्वार, बाजरा, रागी और कई अन्य अनाज को शामिल करने के संबंध में जागरूकता फैलाने की जरूरत पर जोर दिया। गरम हवाओं, सूखा, ठंडी हवाओं, भारी बारिश के कारण बाढ़ जैसे जलवायु संबंधी संकट की वजह से भारी नुकसान होता है और कृषि आजीविका के लिए ये बड़ी चुनौती साबित होते हैं। ऐसे नुकसान से किसानों को बचाने के लिए एकीकृत कृषि प्रणालियां विकसित की गई हैं। किसानों द्वारा पीढ़ियों से पैदा की जा रही पारंपरिक किस्मों की सहनशीलता और अन्य गुणों की जांच की जा रही है। पानी के इस्तेमाल में दक्षता बढ़ाने के क्रम में प्रधानमंत्री ने जागरूकता और विस्तार कार्यक्रम कराए जाने की इच्छा प्रकट की।   


राज भवन में राष्ट्रपति से की मुलाकात

अकांशु उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से राष्ट्रपति भवन में मुलाकात की। राष्ट्रपति भवन के सूत्रों ने बताया कि मोदी ने राष्ट्रपति को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय महत्व के हालिया मसलों से अवगत कराया।


लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद मोदी ने लेह का दौरा किया था। समझा जाता है कि मोदी ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर दोनों देशों के बीच जारी तनावपूर्ण स्थिति पर भी राष्ट्रपति से चर्चा की। 


नहीं मिला इंसाफ तो हो जाएगा सफाया

अनिल मिश्रा


नई दिल्ली। किसी समुदाय को जब अपना अस्तित्व बचाना होता है तो वह उसके लिए शांत रहने का समय नहीं होता। कुछ इसी कारण से आज बुद्ध के अहिंसा-शांति के उपदेशों के रास्ते को छोड़कर आक्रमण की नीति अपनाने को मजबूर हो रहा बौद्ध समुदाय। मोक्ष की साधना आखिर शांतिमय वातावरण चाहती है। किंतु अपनी परंपरा, अपनी संस्कृति और समुदाय को बचाने के कई बार अन्य रास्ते भी तलाश करने पड़ते हैं। शायद इसी कारण लद्दाख के बौद्ध उग्र हो रहे हैं। उन्होंने चिंता जाहिर की है कि अब यदि इंसाफ नहीं मिला तो देश से बौद्धों का सफाया हो जाएगा और लद्दाख मुस्लिम देश हो जाएगा। 


दरअसल लद्दाख में बौद्ध लड़कियां लव जिहाद का शिकार बनाई जा रही हैं, ताकि लद्दाख को भी मुस्लिम बहुल क्षेत्र बनाया जा सके। एलबीए यानी लद्दाख बुद्धिस्ट एसोसिएशन का कहना है कि मुस्लिम नौजवान खुद को बौद्ध बताकर लड़कियों से जान पहचान बढ़ाते हैं और शादी कर लेते हैं। बाद में पता चलता है कि वह बौद्ध नहीं, बल्कि मुस्लिम है। लद्दाख में लेह और कारगिल दो जिले हैं और यहां की कुल आबादी 2,74,000 है। यहां मुस्लिमों की आबादी 49 फीसद है, जबकि बौद्धों की आबादी 51 फीसद है। एलबीए की आपत्ति इस बात पर है कि प्रशासन कथित तौर पर बौद्ध लड़की के धर्म परिवर्तन के मामले की अनदेखी कर रहा है।


वर्ष 1989 में यहां बौद्धों और मुस्लिमों के बीच हिंसा हुई थी। इसके बाद एलबीए ने मुस्लिमों का सामाजिक-आर्थिक बहिष्कार किया, जो 1992 में हटा लिया गया था। दरअसल जम्मू-कश्मीर के भारत में विलय के फैसले के ठीक बाद लद्दाख के बौद्ध, राज्य में शेख अब्दुल्ला और कश्मीर के प्रभुत्व का विरोध करने लगे। वर्ष 1947 के बाद कश्मीर के पहले बजट में लद्दाख के लिए कोई फंड निर्धारित नहीं किया गया।


वर्ष 1961 तक इस क्षेत्र के लिए अलग से कोई योजना नहीं बनाई गई थी। मई 1949 में एलबीए के अध्यक्ष चेवांग रिग्जिन ने तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से कहा था कि लद्दाख का प्रशासन सीधे भारत सरकार के हाथों में हो या जम्मू के हिंदू बहुल इलाकों के साथ मिलाकर इसे अलग राज्य बना दिया जाना चाहिए। इस बीच लद्दाख पर पाकिस्तान की भी नजरें गड़ी रहीं और ये लव जिहाद पाकिस्तान की ही एक नीति का हिस्सा है, क्योंकि पाकिस्तान चाहता है कि लद्दाख में मुस्लिम आबादी में वृद्धि हो या किसी तरह से वहां के लोग मुस्लिम धर्म अपनाते जाएं, ताकि मुस्लिम धर्मावलंबियों का अधिक संख्या में होना उसके पक्ष में माहौल बनाने के काम आए।


वर्ष 2003 से अब तक यहां पर सौ से ज्यादा लड़कियों को लव जिहाद का शिकार बनाया गया और हमेशा की तरह दावा यही किया गया कि उन्होंने ऐसा अपनी इच्छा से किया है। जब केरल, बंगाल और उत्तर प्रदेश से लव जिहाद की खबरें आ रही हैं कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के लोग हिंदू लड़कियों को लव जिहाद का शिकार बना रहे हैं, तब सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद यहां के एक खास मामले की जांच एनआइए को सौंपे जाने के बाद उसने अपनी जांच में इन आरोपों को सही पाया।


हालांकि इन घटनाओं पर पूर्व की भांति राजनीति होगी। शायद अल्पसंख्यक कौन होते हैं, कैसे होते हैं, यह बात इराक का यजीदी समुदाय और पाकिस्तान के हिंदू समुदाय से बेहतर कौन जान सकता है। लेकिन प्रकृति पूजक, बौद्ध तंत्र तथा बौद्ध मत को मानने वाला यह समुदाय है, जो न तो घृणा फैलाने में विश्वास रखते हैं और न ही हिंसा के समर्थक हैं, लेकिन कब तक मौन रहकर हिंसा और अत्याचार को ङोलते रह सकते हैं?              


असम में बाढ़ से 61 लोगों की मौत

मनोज सिंह ठाकुर


गुवाहाटी। असम में बाढ़ से शनिवार को दो और लोगों की मौत हो गई। बाढ़ से अब तक 18 जिलों में 10.75 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने अपने नियमित बुलेटिन में बताया कि मोरीगांव में बाढ़ से एक व्यक्ति की मौत हुई और एक अन्य व्यक्ति की मौत तिनसुकिया जिले में हुई है। दो और मौत के बाद राज्य में मृतकों की संख्या 61 हो गई है, जिनमें से 37 लोगों की मौत बाढ़ के कारण और 24 लोगों की मौत लगातार हुई बारिश के कारण हुए भूस्खलन से हुई है।
लखीमपुर और बोंगाईगांव में शनिवार को बाढ़ का पानी कम हुआ है. धेमाजी, बिश्वनाथ, चिरांग, दारंग, नलबाड़ी, बारपेटा, कोकराझार, धुबरी, दक्षिण सालमारा, गोलपाड़ा, कामरूप, कामरूप मेट्रोपॉलिटन, मोरीगांव, नागांव, गोलाघाट, जोरहाट, डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया जिले बाढ़ से प्रभावित हैं।
बारपेटा बाढ़ से बुरी तरह से प्रभावित है जहां 6.33 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और इसके बाद दक्षिण सालमारा में लगभग 1.95 लाख लोग प्रभावित हैं। गोलपाड़ा में 83,300 से अधिक लोग प्रभावित हैं। इसमें कहा गया है कि पिछले 24 घंटे में तीन जिलों में एसडीआरएफ, जिला प्रशासन और स्थानीय लोगों ने 1,046 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। जिला प्रशासन ने आठ जिलों में 171 राहत शिविर और वितरण केन्द्र स्थापित किए हैं, जहां इस समय 6,531 लोग शरण लिए हुए हैं।


रेपिस्ट से रिश्वत लेने का आरोप लगा

रेप के आरोपी से 35 लाख की रिश्वत लेने का आरोप,


महिला SI गिरफ्तार


अहमदाबाद। बलात्कार के आरोपी से 35 लाख रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में एक महिला पुलिस सब-इंस्पेक्टर को गिरफ्तार किया गया है,महिला सब- इंस्पेक्टर को गिरफ्तार करने के बाद कोर्ट में पेश किया गया,जहां से उसको तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया,आरोपी महिला सब-इंस्पेक्टर श्वेता जड़ेजा अहमदाबाद की महिला पुलिस स्टेशन की इंचार्ज थी।
श्वेता जड़ेजा पर बलात्कार के आरोपी से 35 लाख रुपये की रिश्वत लेने के आरोप में एफआईआर दर्ज की गई है, एफआईआर के मुताबिक अहमदाबाद की एक निजी कंपनी की दो महिला कर्मचारियों ने कंपनी के प्रबंध निदेशक केनल शाह के खिलाफ बलात्कार की शिकायत दर्ज कराई थी,इसी मामले में कंपनी के सुरक्षा अधिकारी ने भी अहमदाबाद के सैटेलाइट थाने में शिकायत दी थी,इस पर क्राइम ब्रांच ने मामला दर्ज किया है।
इन मामले की जांच के दौरान महिला पुलिस थाने की इंचार्ज श्वेता जड़ेजा ने आरोपी से 35 लाख रुपये रिश्वत की मांग यह कहते हु‌ए की कि अगर उसको पैसा नहीं दिया गया,तो आरोपी के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।
श्वेता जड़ेजा ने केनल शाह के भाई भावेश को बुलाकर रिश्वत की मांग की और 20 लाख रुपये में दोनों पक्ष राजी हुए,रिश्वत की रकम बाद में आंगड़िया के जरिए जमजोधपुर में पुलिस सब-इंस्पक्टर श्वेता जड़ेजा के किसी पहचान वाले को पहुंचाई गई,आरोपी केनल शाह के खिलाफ एक और मामला दर्ज हुआ,जिसके बाद पुलिस अधिकारी श्वेता जड़ेजा ने आरोपी के भाई से फिर 20 लाख रुपये की मांग की और 15 लाख रुपये में मामला तय किया गया। यह रकम भी पुनः जमजोधपुर भेजी गई।


शिकायत के अनुसार इसी दौरान आरोपी के भाई भावेश ने एक शिकायत पुलिस को दे दी थी,जिसकी जांच पीआई आरएस सुवेरा कर रहे थे,जिन्होंने आवश्यक प्रमाण एकत्रित किए और औपचारिक शिकायत दर्ज कराई,क्राइम ब्रांच की टीम ने पूरे मामले की बारीकी से जांच कर श्वेता जड़ेजा के खिलाफ शिकायत दर्ज की। क्राइम ब्रांच के जॉइंट पुलिस कमिश्नर अजय तोमर का कहना है कि जब पूरे मामले की जांच की गई, तो उसमें कुछ सच्चाई सामने आई,जिसके बाद श्वेता जड़ेजा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई,इस पूरे मामले की जांच अब स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप के एसीपी बीसी सोलंकी को सौंपी गई है,आरोपी पुलिस अधिकारी का बयान दर्ज कर लिया गया है।           


दंपत्ति की संदिग्ध हत्या या आत्महत्या

नवविवाहित जोड़े ने संदिग्ध हालात में मौत को गले लगाया




अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कविनगर थाना प्रभारी विशाल प्रजापति और निशा पहले से एक दूसरे को जानते थे और अलग-अलग जाति से संबंध रखने के बावजूद दोनों परिवार वालों की सहमति से 29 जून को इनकी शादी हुई थी। शादी के बाद विशाल के घर में दो तीन दिन तो जश्न का माहौल रहा, लेकिन दो जुलाई की दोपहर घर से कोचिंग के लिए निकला विशाल जब देर रात तक वापस नहीं आया तो घर वालों को चिंता हुई। पूरी रात उसे तलाश किया गया, लेकिन कोई खबर नहीं मिली। आखिरकार तीन जुलाई को रेलवे ट्रैक पर विशाल का शव पड़ा मिला। इधर निशा के परिवार वाले विशाल का अंतिम संस्कार होने के बाद तीन जुलाई की ही शाम को उसे मायके ले आए, लेकिन चार जुलाई की सुबह निशा भी अपने कमरे में फंदे से लटकी हुई मिली।


थाना प्रभारी ने बताया कि अभी तक इतनी बड़ी घटना की कोई ठोस वजह सामने नहीं आई है। दोनों परिवारों से एक साथ और अलग-अलग भी पूछताछ हो चुकी है, लेकिन कोई भी व्यक्ति कुछ भी बताने में असमर्थ है। फिलहाल पुलिस दोनों के मोबाइल फोन को कब्जे में लेकर इसकी जांच कर रही है। दोनों के कॉल डिटेल से लेकर चैट तक खंगाले जा रहे हैं।




पुलिस ने दी थी दबिश की सूचनाः नौकर

दुबे का नौकर, बोला- पुलिस ने ही दी थी दबिश की सूचना







संदीप मिश्रा


कानपुर। चौबेपुर थाना क्षेत्र के विकरू गांव में शुक्रवार रात हुई मुठभेड़  में शामिल कुख्यात विकास दुबे  का नौकर दयाशंकर अग्निहोत्री को पुलिस ने कल्याणपुर थाना क्षेत्र में मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार कर लिया। मुठभेड़ में दयाशंकर के पैर में गोली लगी है। उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल में एडमिट कराया गया है। गिरफ्तार दयाशंकर ने बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि पुलिस की तरफ से ही दबिश की जानकारी विकास दुबे को दी गई थी। जिसके बाद उसने अपने सभी असलहाधारी गुर्गों को फोनकर बुलाया था। जिसके बाद हुई ताबड़तोड़ फायरिंग में एक सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे।


जिला अस्पताल में एडमिट दयाशंकर अग्निहोत्री ने बातचीत में बताया कि दबिश की सूचना पुलिस की तरफ से ही मिली थी। उसने बाते कि थाने से एक फोन आया था। जिसके बाद विकास दुबे ने अपने साथियों को असलहे के साथ बुलाया था। दयाशंकर ने बताया कि उस वक्त घर में एक ही असलहा था जो उसके नाम पर हैं। विकास दुबे ने उसी असलहे से गोली चलाई थी। गौरतलब है कि विकास दुबे के साथ फरार जिन 18 लोगों पर इनाम घोषित किया गया है, उसमें दयाशंकर का नाम पांचवें नंबर पर है। उस पर पुलिस ने 25 हजार का इनाम घोषित कर रखा था। दयाशंकर ने बताया कि उसने गोली नहीं चलाई. उसे कमरे में बंद कर दिया गया था। हालांकि वह नहीं बता सका कि कितने लोग इस गोलीबारी में शामिल थे।


पुलिस वाले ही मुखबिर


विकरू काण्ड के बाद से जारी तफ्तीश में अब तक एक बात तो साफ है कि मुखबिरी पुलिस डिपार्टमेंट की तरफ से ही दी गई। इससे पहले यह बात सामने आई थी कि दबिश से पहले गांव की बिजली भी काटी गई थी। इसके लिए भी चौबेपुर थाने से ही फोन आया था। इस मामले में भी जांच चल रही है। हालांकि संदेह के घेरे में आए एसओ विनय तिवारी को सस्पेंड कर दिया गया है।







25 दिन क्वॉरेंटाइन, आत्महत्या की धमकी

25 दिन से क्वॉरेंटाइन युवक ने वीडियो जारी कर दी धमकी, कर लूंगा आत्महत्या







कुंडा। कोरोना वायरस का कहर चौतरफा बरपा हुआ है। देश से लेकर प्रदेश में भी इसकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इसी बीच प्रवासी मजदूरों के अलावा बाहर से गांव या शहर में पहुंचने वाले लोगों को अलग-अलग जगह क्वॉरेंटाइन किया गया है। कुंडा के हाई स्कूल में एक युवक पिछले 25 दिनों से क्वॉरेंटाइन में है, जिन्होंने अपना एक वीडियो जारी कर कहा है कि वह इससे पहले भी 20 दिन क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह चुका हैं, उसके बाद 2 दिन घर में रुकने के बाद उन्हें फिर से क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है, जहां जांच में उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है। उसके बाद भी उन्हें छुट्टी नहीं दिया जा रहा है, जिसके चलते उसकी मानसिक स्थिति बिगड़ती जा रही है।


यदि आज रात तक उसे छुट्टी नहीं दी जाती तो युवक का कहना है कि वह आत्महत्या कर लेगा, जिसकी पूरी जिम्मेदारी शासन व प्रशासन की होगी। यह कोई पहला मामला नहीं है, जहां इतने दिनों तक किसी को क्वॉरेंटाइन में रखा गया हो इससे पहले भी कई लोगों को समय अवधि बीत जाने के बाद भी एहतियातन क्वॉरेंटाइन में रखा गया था। अब देखना यह है कि प्रशासन इस गंभीर मुद्दे पर अपना क्या रुख रखता है।


कलेक्टर ने भेजी टीम


जिला कलेक्टर रमेश शर्मा ने मामले की गंभीरता को देखते हुए तहसीलदार को कुंडा क्वॉरेंटाइन सेंटर जाने का निर्देश दिया है और युवक से संबंधित रिपोर्ट देखने और उसके अवकाश संबंधी विषयों पर गंभीरता से लेने की बात कही है।


 मामला संज्ञान में आया है, जानकारी मिलते ही इस मामले को लेकर टीम भेजा जा गया है, युवक का क्वारंटाइन पूरा होने के बाद वहां पॉजिटिव मामला आने के कारण दोबारा क्वॉरेंटाइन किया गया,जिसके चलते उसे इतना दिन क्वॉरेंटाइन में रखा गया है, बाकी रिपोर्ट आने के बाद ही बता पाऊंगा।







बारिश ने स्मार्ट सिटी का चेहरा बदला

धर्मशाला। बारिश-तूफान के बीच स्मार्ट सिटी धर्मशाला का चेहरा ही बदल गया। शनिवार-रविवार मध्य रात को बिजली की तारें व पेड़ सड़क पर आ गिरे। ये सब उस वक्त हुआ जब रात को लोग सोए हुए थे तो तेज तूफान के बीच हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड के आसपास वाले क्षेत्र में खासा नुकसान हुआ है। शहीद स्मारक के सामने सैनिक रेस्ट हाउस के बाहरी तरफ भी पेड़ गिरकर सड़क को बाधित कर गया। इसी तरह बिजली की तारें भी सड़क पर आ गिरी।शिक्षा बोर्ड के निचली तरफ मोड़ पर भी खासा नुकसान हुआ है। इससे कुछ देर के लिए यातायात भी बाधित रहा।


दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे, 13 घंटे का सफर

हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे 1261 किलोमीटर की लंबाई का बनना है, इस पर करीब एक लाख करोड़ रुपये की लागत आनी है। इस एक्सप्रेस वे के 497 किलोमीटर के टुकड़े पर काम तेजी से चल रहा है, वहीं 162 किलोमीटर के दूसरे टुकड़े पर जल्द ही काम शुरु होने वाला है। जबकि बाकी बचे हुए 569 किलोमीटर के हिस्से के लिए टेंडरिंग प्रक्रिया चल रही है।


जानकारों की माने तो दिल्ली से मुंबई के बीच 1261 किलोमीटर लंबे एक्सप्रेस वे के बनने से 150 किलोमीटर की दूरी कम हो जाएगी वहीं यात्रा के समय में 11 घंटे की कटौती होगी। फिलहाल दिल्ली से मुंबई तक जाने में 24 घंटे लगते हैं, लेकिन इस एक्सप्रेसवे के तैयार होने के बाद महज 13 घंटे ही लगेंगे। दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे आठ लेन का बन रहा है, इस एक्सप्रेसवे का निर्माण इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेंट, कंस्ट्रक्शन (EPC) रूट के जरिये किया जा रहा है। इसके लिए स्पेशल पर्पस व्हीकल (एसपीवी) के जरिए 50,000 करोड़ रुपए जुटाए जाएंगे। पिछले दिनों इस योजना को वित्त मंत्रालय की मंजूरी मिल गई है। इस साल जुलाई के आखिर तक इस मॉडल के प्रारूप को अंतिम रूप दिया जाएगा। इस काम के लिए एक मर्चेट बैंकर नियुक्त किया जाएगा।


बता दें कि दिल्‍ली-मुंबई एक्सप्रेस-वे निर्माण भारतमाला परियोजना के पहले चरण के तहत हो रहा है। 3 साल पहले यानी 2017 से इस योजना पर काम शुरू हुआ था और इसे वर्ष 2022 तक पूरा करना था। यह अलग बात है कि 2 साल पीछे होने के चलते एक्सप्रेसवे 2023-24 तक बनकर तैयार हो सकता है।


घर खरीदना सभी के लिए हुआ आसान

कविता गर्ग


नई दिल्ली। अपने सपनों का घर खरीदना हर किसी के लिए आसान नहीं होता, इसलिए लोन का सहारा लेना पड़ता है। इसी बीच अब देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक SBI ने अपने ग्राहकों को बड़ा तोहफा दिया है। SBI ने होम लोन पर इंट्रेस्ट रेट घटा दिए हैं। इससे घर खरीदने वालों को बड़ी राहत मिलेगी। होम लोन की ब्याज दर में कटौती के बाद अब SBI के होम लोन की रेट 6.95 फीसदी सालाना से शुरू होगी। एसबीआई के मुताबिक, ब्याज की नई दर 1 जुलाई 2020 से लागू हो गई है। SBI में महिलाओं को होम लोन 6.95 फीसदी सालाना की शुरुआती दर से मिलेगा, जबकि अन्य लोगों के लिए 7 फीसदी सालाना से शुरू होगा।


घर खरीदना होगा अब आसान
एसबीआई से होम लोन लेकर घर खरीदना अब और आसान हो गया है। बता दें कि बैंक ने होम लोन की ब्याज दर में कटौती की है। इसके बाद अब होम लोन की शुरुआती दर अब 6.95 फीसदी हो गई है। SBI बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार SBI में फ्लोटिंग होम लोन इंट्रेस्ट रेट महिलाओं के लिए 6.95 फीसदी से शुरू है, जबकि अन्य के लिए यह दर 7 फीसदी से शुरू हो रही है।


महिलाओं के लिए सस्ता होम लोन
भारतीय स्टेट बैंक ने ब्याज में कटौती के साथ ही महिलाओं के लिए होम लोन को सस्ता कर दिया है। अब महिलाओं के लिए ब्याज दर 7 फीसदी से कम हो गई है। एसबीआई महिलाओं को होम लोन के ब्याज दर पर 0.05 फीसदी की छूट देता है। एसबीआई में महिलाओं के लिए टर्म लोन 6.95 फीसदी से 7.30 फीसदी सालाना और मैक्सगेन लोन की ब्याज दर 7.30 फीसदी से 7.65 फीसदी सालाना हो गई है।


बता दें कि नॉन-सैलरीड क्लास को बैंक से लोन लेने वाले ब्याज दर पर 0.15 फीसदी ज्यादा का भुगतान करना पड़ता है। इससे पहले जून के दूसरे हफ्ते में देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक ने अपने एक्सटर्नल बेंचमार्क लिंक्ड रेट को 7.05 फीसदी से घटाकर 6.65 फीसदी करने की घोषणा की थी।


SBI REALTY LOAN
एसबीआई रियल्टी लोन में भी महिलाओं को 0.05 फीसदी की छूट मिल रही है। SBI REALTY LOAN की प्रभावी ब्याज दर पहले 5 सालों के लिए 7.70 से 7.90 फीसदी सालाना तक है, जबकि महिलाओं के लिए यह दर 7.65 फीसदी से 7.85 फीसदी सालाना तक होगी। वहीं जिन लोगों का SBI में सैलरी अकाउंट नहीं है, उन्हें रियल्टी लोन के मामले में तय रेट से 0.05 फीसदी अधिक चुकाना होगा।


मोबाइल से पर्सनल लोन की सुविधा
बता दें कि SBI अपने ग्राहकों को घर बैठे पर्सनल लोन की सुविधा उपलब्ध कराता है। यानी की आप घर बैठे पर्सनल लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं। इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए आपको एसबीआई का ग्राहक होना जरूरी है। इसके बाद आप घर बैठे ऑनलाइन प्री-अप्रूव्ड पर्सनल लोन ले सकते हैं। इसके लिए आपको एसबीआई के मोबाइल ऐप से आवेदन करना होगा।


SMS से पता करें लोन की योग्यता
SBI ने ट्वीट के जरिए जानकारी दी है कि लोन के लिए अपनी योग्यता को SMS के जरिए जान सकते हैं। इसके लिए अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से PAPL को 567676 पर एसएमएस करना होगा। इसके बाद बैंक आपको कुछ मापदंडों के आधार पर लोन की जानकारी देगा।


3 बहनों ने कुल्हाड़ी से पिता को काटा

कविता गर्ग


मास्को। हरेक पिता हर परेशानी से अपने बच्चों की रक्षा करता है। एक बेटी खासकर अपने पिता से जुड़ी होती है। उसे उम्मीद होती है कि उसका पिता उसे दुनिया की हर मुसीबत से बचा लेगा। लेकिन अगर वही पिता बेटी की इज्जत का लूटेरा बन जाए तो? रिश्तों को शर्मसार करने वाला ये मामला रूस से 2018 में सामने आया था। यहां तीन बेटियों ने मिलकर अपने सगे पिता को मौत के घाट उतार दिया था। जब पुलिस ने बेटियों को अरेस्ट कर पूछताछ की तो पता चला कि हैवान पिता अपनी बेटियों की इज्जत लूटता था। जब सालों तक दुष्कर्म का दंश झेलती बेटियों के लिए ये असहनीय हो गया तो उन्होंने मिलकर अपने पिता की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी। अब दो साल बाद कोर्ट ने इस मामले में बेटियों को बीस साल जेल की सजा देने का ऐलान किया है। कोर्ट के इस फैसले की हर तरफ आलोचना हो रही है। आइये आपको बताते हैं कैसे एक पिता ने अपनी तीन सगी बेटियों की जिंदगी बर्बाद की थी।


रूस के माफिया मिखाइल खचतुर्यां की बॉडी 2018 में मिली थी। उसकी हत्या उसकी तीन सगी बेटियों ने, जिनकी उम्र उस समय 17, 18 और 19 साल थी, ने मिलकर की थी। उन्होंने पुलिस को बताया था कि सेल्फ डिफेन्स में उन्होंने पिता की हत्या की थी। रुसी अथॉरिटीज के मुताबिक, अब इस मामले में तीन में दो बेटियों को बीस साल जेल की सजा दी जा सकती है। साथ ही तीसरी बेटी को मेन्टल असाइलम भेजा जा सकता है। ऑफिसर्स का कहना है कि ट्रायल के दौरान ये साबित नहीं हुआ कि मृतक की दोनों बेटियों क्रिस्टीना और एंजेलिना ने सेल्फ डिफेंस में ये मर्डर किया था। ऐसे में उन्हें खून का दोषी माना जा रहा है। साथ ही तीसरी बेटी मरिया को साइकाइट्रिस्ट के पास भेजा जाएगा।


इस मामले की जांच के लिए एक कमिटी बैठाई गई थी। कुछ महीनों पहले कहा गया था कि मेंटल और फिजिकल अब्यूज से परेशान होकर ये हत्या की गई थी। लेकिन अब इसे लेकर सजा देने की बात कही जा रही है। हत्या के इस केस की जांच दो साल से चल रही है। बेटियों ने पुलिस को बताया कि उनका पिता कई सालों से तीनों का रेप करता था। उसकी हर बेटी पर बुरी नजर थी। मां की मौत के बाद वो अपनी बेटियों को अपनी पत्नी बताता था। साथ ही चाहता था कि उसकी बेटियां  उसके होने वाले बच्चों की मां बने। जांच में ये बात भी सामने आई कि पिता अपनी बेटियों को कपड़े उतारकर उसके सामने खड़े होने को कहता था। फिर सभी से उसे सेक्सयुअल प्लेजर देने की बात कहता था। अगर इंकार करती, तो उसे जान से मारने की धमकी देता।


जब तीनों से अपने पिता का आतंक सहना मुश्किल हो गया तो उन्होंने मिलकर अपने पिता के हथौड़े से मारकर हत्या कर दी। बेटियों को जेल की सजा कोर्ट ने इस आधार पर दी कि जब उसकी हत्या की गई थी उस समय मृतक को नशीला पदार्थ दिया गया था। साथ ही उस समय वो किसी पर अटैक करने की पोजीशन में नहीं था। ऐसे में हत्या सेल्फ डिफेंस के लिए की गई, ऐसा नहीं कहा जा सकता।


चलती बस में पोर्न फिल्म बनाई, केस दर्ज

कविता गर्ग


कोलंबिया। दुनिया में अभी कोरोना का कहर फैला हुआ है। इस वायरस की वजह से दुनिया में कई तरह की पेरशानियां देखने को मिल रही है। दुनिया के कई देश लॉकडाउन किये जा चुके हैं। वायरस के कारण कई देशों में बेरोजगारी की समस्या बढ़ गई है। कहीं क्राइम के मामले बढ़ गए हैं। लेकिन ये बात भी सही है कि कोरोना के कारण दुनिया का ध्यान बाकी की चीजों से हटकर सिर्फ इस वायरस पर ही टिक गया है। हाल ही में कोलंबिया से एक शॉकिंग मामला सामने आया। यहां एक एडल्ट स्टार ने चलती बस में पोर्न फिल्म बनाया। लेकिन पब्लिक में अश्लील फिल्म बनाने की जगह उसपर इस बात का केस दर्ज करवाया गया कि महिला ने मास्क नहीं पहन रखा था। बता दें कि इससे पहले पब्लिक प्लेस में अश्लील हरकतें करना गैरकानूनी था। लेकिन अब मास्क पहनना उससे भी बड़ा क्राइम बन गया है।


कोलंबिया में रहने वाली एक पोर्न स्टार को इन दिनों पुलिस ढूंढ रही है। महिला का वीडियो एडल्ट साइट पर अपलोड किया गया था। इस वीडियो में महिला चलती बस में वीडियो बनाती नजर आई थी। एडल्ट स्टार की पहचान काओरी डोमिनिक के रूप में हुई है। कोलंबिया पुलिस ने महिला पर बस में एडल्ट मूवी बनाने के लिए नहीं, बल्कि बिना मास्क लगाए वीडियो बनाने को लेकर केस दर्ज किया है। पुलिस का कहना है कि महिला ने पब्लिक ट्रांसपोर्ट में मास्क नहीं पहनकर रूल तोड़ा है। कोरोना काल में सभी को पब्लिक  में मास्क पहनना अनिवार्य है।


इस वीडियो को हाल ही में एडल्ट साइट पर शेयर किया गया था। इसमें महिला ग्लव्स पहने और मास्क को गले में लटकाए नजर आई। इसके बाद उन्होंने बस में वीडियो शूट किया और फिर महिला चली गई। महिला पर एडल्ट फिल्म की जगह मास्क नहीं लगाने के लिए दर्ज केस ने लोगों को हैरत में डाल दिया है। वीडियो में जो शख्स महिला को शूट कर रहा है, उसकी भी तलाश की जा रही है। वहीं इस पूरे मामले पर लोगों ने अलग-अलग तरह के कमेंट्स किये हैं। उनका कहना है कि कोरोना में अब पब्लिक में अश्लील हरकतें करना जायज है लेकिन आप मास्क ना पहनें ये गैरकानूनी है।


613 लोगों की मौत, 24850 संक्रमित

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। दुनिया में कोरोना का कोहराम जारी है। भारत में भी इस घातक संक्रमण के फैलने की रफ्तार तेज हो गई है। हर रोज कोरोना से संक्रमण के मामले वृद्धि के पुराने रिकॉर्ड तोड़ नया रिकॉर्ड बना रहे हैं। पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के मामलों में रिकॉर्ड उछाल आया है। इस दौरान 24850 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 613 लोगों की जान गई है। इसके साथ ही देश में संक्रमितों की तादाद 673165 पहुंच गई है। अब तक कोरोना के कारण 19268 लोगों की जान जा चुकी है। अब तक 409083 संक्रमित स्वस्थ भी हुए हैं।


सीआरपीएफ के काफिले पर हमला

पुलवामा में ही बीते साल आतंकी हमले में 40 CRPF जवान शहीद हुए थे


पुलवामा। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में रविवार को एक आईईडी (IED) धमाके में सीआरपीएफ का एक जवान घायल हो गया। इस घटना के बाद जवानों ने पूरे इलाके को घेर लिया है और तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। सुरक्षा बलों की ओर से जम्मू कश्मीर में आतंकियों के सफाए के लिए पिछले काफी वक्त से चल रहे ऑपरेशन को देखते हुए आतंकियों की एक बड़ी साजिश सफल नहीं हो पाई।


CRPF काफिले पर हमले की आशंका


कश्मीर घाटी के पुलवामा जिले में रविवार को ये आईईडी धमाका हुआ। सीआरपीएफ के मुताबिक, गंगू इलाके में आतंकियों की ओर से लगाई गई आईईडी की चपेट में सीआरपीएफ का एक जवान आ गया और धमाके के कारण घायल हो गया। सीआरपीएफ ने आशंका जताई है कि आतंकियों ने ये आईईडी सीआरपीएफ के काफिले को निशाना बनाने के उद्देश्य से लगाई थी, लेकिन इसमें उनको सफलता नहीं मिली। इस घटना के बाद से ही सीआरपीएफ ने इलाके को घेरकर तलाशी अभियान शुरू कर दिया।


पुलवामा में ही हुआ था CRPF पर हमला


पुलवामा में ही बीते साल आतंकियों ने विस्फोटक से भरी एक कार से सीआरपीएफ के काफिले को टक्कर मार दी थी, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में मौजूद आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया था। हाल के दिनों में कश्मीर घाटी में भारतीय सुरक्षा बलों को आतंकियों के खिलाफ बड़ी सफलताएं हासिल हुई हैं और कई आतंकियों का सफाया हुआ है। शनिवार को भी कुलगाम जिले में हुई मुठभेड़ में हिज्बुल मुजाहिद्दीन के 2 आतंकियों को ढेर कर दिया गया था।


गहरी नींद के बाद क्यों आती है जमाई

रात को गहरी नींद लेने के बाद भी कुछ लोगों को दिनभर नींद आती रहती है। वहीं, कुछ लोग पूरा आराम करने के बाद भी हर समय थका-थका महसूस करते हैं। अगर आप इन लोगों में से तो आपको अपनी सेहत पर ध्यान देने की जरूरत है, क्योंकि बहुत अधिक नींद आना या बहुत अधिक थकान होना आपकी गिरती सेहत की निशानी हैं…
क्यों आती रहती है हर समय नींद?
-जब शरीर से अधिक दिमाग थक जाता है, तब भी बहुत अधिक नींद आती है। अगर आपको लगता है कि आप लगातार कई घंटों तक एक ही जगह बैठे रहते हैं। या आप कंप्यूटर संबंधित जॉब में हैं तो आपके साथ यह समस्या होने की संभावना कई गुना बढ़ जाती है।
-क्योंकि इस तरह दिनभर काम करने से एक वक्त बाद आपका ब्रेन और आंखें बहुत अधिक थक जाते हैं, जबकि शारीरिक गतिविधि के अभाव में शरीर में दूसरी तरह की दिक्कतें पनपने लगती हैं।
अधिक नींद आने के सेहत से जुड़े कारण
-कुछ लोगों को अधिक नींद कई शारीरिक समस्याओं के कारण भी आती है। इनमें रेस्टलेस लेग, किडनी की समस्या, थायरॉइड से जुड़ी दिक्कतें, किसी दवाई को लंबे समय से लेते रहने के बाद उसे बंद कर देना आदि शामिल हैं।
टाइमटेबल का अभाव
-जिन लोगों के सोने और जागने का कोई निश्चित समय नहीं होता है, उन्हें भी नींद से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसलिए एक हेल्दी लाइफ के लिए यह जरूरी हो जाता है कि आप खाने-पीने और सोने-जागने का एक निश्चित समय निर्धारित करें।
सही डायट का ना होना
-कुछ लोग कैफीन युक्त पदार्थों का अधिक सेवन करते हैं तो कुछ लोगों को बहुत अधिक ऑइली और स्पाइसी फूड खाना पसंद होता है। इस तरह का भोजन भी हमारे नींद के साइकल को बाधित करता है। क्योंकि यह पाचन को सही नहीं रहने देता और अगर पेट ठीक ना हो तो शरीर की थकान कभी उतर ही नहीं सकती।
समाधान क्या है?
-बहुत अधिक नींद आने और हर समय थकान रहने की समस्या का सबसे पहला समाधान तो यही है कि आप अपनी डायट को सही करें और टाइमटेबल में सुधार करें।
-इसके साथ ही शुरुआती स्तर पर डॉक्टर से परामर्श के बाद कुछ जरूरी दवाओं का सेवन करें। इनकी सहायता से आप अपने पेट और ब्रेन के कनेक्श को सही कर पाएंगे। इसके बाद अपनी सही लाइफस्टाइल को फॉलो करते हुए इन समस्याओं से निजात पा सकते हैं।


लंबे और मजबूत बालों के लिए टिप्स

मनोज सिंह ठाकुर


आपने किसी को यह कहते हुए सुना है कि चोटी बनाने से बाल लंबे और मजबूत होंगे? महिलाएं लंबे बालों के लिए ऑयल मसाज, ट्रिमिंग, हेयर स्पा सहित कई तरीके आजमाती हैं। लेकिन बहुत ही कम महिलाएं यह जानती हैं कि हेयर स्टाइल से भी बाल लंबे होते हैं।
दरअसल, हम सभी अपने बालों को स्वस्थ और सुरक्षित रखना चाहते हैं। इसके लिए हम महंगे शैंपू, हेयर स्पा और हर्बल शैंपू का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन महज एक हेयर स्टाइल से भी बालों को लंबा और मजबूत बनाया जा सकता है। दरअसल बालों की चोटी बनाने से हेयर फॉल सहित अन्य समस्याएं कम होती हैं।
चोटी बनाने से कैसे बढ़ते हैं बाल?
हम बचपन से ही दादी और नानी से अक्सर सुनते आ रहे हैं कि चोटी बनाने से बाल बढ़ते हैं। लेकिन कम ही लोगों को इस बात पर यकीन होता है। स्टडी में पाया गया है कि हेयर टैप या चोटी बनाने से बाल बढ़ते हैं। दरअसल, चोटी बनाने से बाल एक जगह इक_ा हो जाते हैं और कम टूटते हैं। इसके अलावा बालों में खिंचाव कम होता है और ये तेजी से विकास करते हैं। इसलिए बालों को खुले रखने के बजाय चोटी बनाना चाहिए।
बाल उलझने से बचाए
खुले बाल बहुत जल्दी उलझ जाते हैं और टूटने लगते हैं। इसके अलावा ये धूल, मिट्टी और गंदगी के संपर्क में आते हैं। इसके कारण बाल कमजोर और ड्राई हो जाते हैं। बालों की चोटी बनाने से ये कम उलझते हैं और तकिया लगाने पर इनमें तनाव भी कम होता है।
स्कैल्प पर प्रभाव
बालों की चोटी बनाने के फायदे के साथ नुकसान भी है। बालों को अधिक टाइट रखने से हेयर फॉल होता है। इसके अलावा गलत तरीके से चोटी बनाने से स्कैल्प और बालों पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है जिसे ट्रैक्शन एलोपेसिया कहा जाता है।
लंबे और मजबूत बालों के लिए टिप्स
स्वस्थ और लंबे बालों के लिए अपनी लाइफस्टाइल और डाइट को बेहतर रखना बेहद जरूरी है। बालों का विकास जेनेटिक और पोषक तत्वों पर निर्भर करता है।
*हेल्दी जीवनशैली अपनाने और अधिक मात्रा में पोषक तत्वों का सेवन करने से बाल मजबूत होते हैं।
*हर हफ्ते में बालों में तेल लगाकर मसाज करें। इससे बालों को पोषण मिलता है और बाल हेल्दी और लंबे होते हैं।
*बालों के विकास के लिए अच्छी नींद भी बेहद जरूरी है।
*तनाव कम लें और हमेशा खुश रहने की कोशिश करें। ये स्वस्थ बालों के लिए जरूरी है।
*हफ्ते में एक बार घर पर बने हेयर मास्क का उपयोग जरूर करें। इससे बालों को पोषण मिलता है।
इस तरह घने, मजबूत और स्वस्थ बालों के लिए चोटी बनाने की आदत डालना चाहिए। अगर जरूरत न हो तो बालों को हमेशा खुला नहीं रखना चाहिए।


सुशांत की फिल्म 'दिल बेचारा' जीतेगी दिल

मनोज सिंह ठाकुर


मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री जैकलीन फर्नांडीस का कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत की अंतिम फिल्म ‘दिल बेचारा’ दर्शकों का दिल जीत लेगी। सुशांत सिंह राजपूत की अंतिम फिल्म दिल बेचारा देखने के लिए हर को बेसब्री से इंतजार कर रहा है। दिल बेचारा डिज्नी हॉटस्टार पर 24 जुलाई को रिलीज होगी। सुशांत सिंह राजपूत की को स्टार रहीं जैकलीन फर्नांडीस ने सोशल मीडिया पर सुशांत की याद में एक इमोशनल पोस्ट लिखा है। जैकलीन ने सुशांत की अंतिम फिल्म का पोस्टर भी शेयर किया है और भरोसा जताया है कि उनकी ये फिल्म सभी का दिल जीतने में कामयाब होगी।


जैकलीन ने लिखा ,सुशांत के जाने से एक शून्य पैदा हो गया है। उसने मुझे सिखाया था कि मुश्किल समय में सभी के साथ रहो। खुद मैं यदि कभी परेशान होती थी तो उसने मेरी काफी मदद की। अब उसकी आखिरी फिल्म देखना मेरे लिए आसान नहीं होगा। लेकिन मुझे विश्वास है कि सुशांत अपनी एक्टिंग से स्क्रीन को जगमगा देगा। ये बात मुझे शांति जरूर देगी


डेढ़ रुपया किलो खरीद सकेंगे गोबर

बिनेट की बैठक में होगा गोबर की दर का अंतिम निर्णय


गोधन न्याय योजना के क्रियान्वयन को लेकर मंत्रिमण्डलीय उपसमिति ने की विस्तार से चर्चा


दक्षिणापथ, रायपुर। गोधन न्याय योजना के तहत किसानों और पशुपालकों से डेढ़ रूपए की किलो की दर से गोबर की खरीदी किए जाने की अनुशंसा कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे की अध्यक्षता में गठित मंत्रिमण्डलीय उप समिति ने की है। मंत्रिमण्डलीय उप समिति की बैठक आज यहां बीज भवन में आयोजित हुई। बैठक में वन मंत्री श्री मोहम्मद अकबर, सहकारिता मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया शामिल हुए।
छत्तीसगढ़ राज्य में गोधन के संरक्षण एवं सवंर्धन, वर्मी कम्पोस्ट के उत्पादन को बढ़ावा देने तथा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने के उद्देश्य से गोधन न्याय योजना की शुरूआत हरेली त्यौहार से होने जा रही है। इस योजना के तहत शासन द्वारा निर्धारित दर पर किसानों एवं पशुपालकों गोबर की खरीदी की जाएगी। जिसके जरिए वृहद पैमाने पर वर्मी कम्पोस्ट खाद का उत्पादन किया जाएगा। मंत्रिमण्डलीय उपसमिति की बैठक में गोधन न्याय योजना के तहत गोबर की खरीदी और इससे प्रबंधन के संबंध में कृषि विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से विस्तार से चर्चा की। बैठक में मंत्री श्री रविन्द्र चौबे एवं श्री मोहम्मद अकबर ने गोबर क्रय करने की पारदर्शी व्यवस्था तय करने की बात कही। उन्होंने कहा कि गौठान समिति अथवा उसके द्वारा नामित समूह द्वारा घर-घर जाकर गोबर संग्रहण किया जाएगा। उन्होंने इसके लिए खरीदी कार्ड की भी व्यवस्था सुनिश्चित करने की बात कही, ताकि रोजाना संग्रहित किए जाने वाले गोबर की मात्रा और भुगतान की राशि का उल्लेख कार्ड में किया जा सके। समिति ने किसानों और पशुपालकों में क्रय किए गए गोबर के एवज में पाक्षिक भुगतान किए जाने कीे भी अनुशंसा की है।
मंत्री रविन्द्र चौबे ने कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. एम. गीता एवं कृषि संचालक निलेश क्षीरसागर को गौठानों में पशुधन की संख्या और गौठान के रकबे को ध्यान में रखते हुए वर्मी कम्पोस्ट तैयार करने के लिए कम से कम दस पक्के टांके का निर्माण शीघ्रता से कराए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि पशुधन की संख्या और गौठानों में स्थान की उपलब्धता को देखते हुए टांके का निर्माण कराया जाना चाहिए। समिति ने गोबर संग्रहण का दायित्व गौठान समिति अथवा महिला स्व-सहायता समूह को देने की बात कही। बैठक में कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. एम. गीता ने गोधन न्याय योजना के तहत गोबर के संग्रहण से लेकर वर्मी कम्पोस्ट तैयार किए जाने के संबंध मंे गौठान समितियों एवं स्व-सहायता समूहों को प्रशिक्षण दिए जाने के बारे में विस्तार से जानकारी दी। नगरीय इलाकों में भी गोधन न्याय योजना के तहत गोबर की खरीदी नगरीय प्रशासन विभाग द्वारा तथा वन क्षेत्रों में वन प्रबंधन समितियों के माध्यम से किया जाएगा।
मंत्रिमण्डलीय उपसमिति ने गौठानों के प्रबंधन, पशुधन के लिए चारे की व्यवस्था, शहरी इलाकों में गौठानों के निर्माण के संबंध मंे भी अधिकारियों को आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि वर्मी कम्पोस्ट की आवश्यकता किसानों के साथ-साथ उद्यानिकी, वन विभाग एवं नगरीय प्रशासन विभाग को बड़े पैमाने पर होती है। गोधन न्याय योजना के तहत तैयार वर्मी कम्पोस्ट के मार्केटिंग की दिक्कत नहीं है। उन्होंने कहा कि गौठानों में उत्पादित वर्मी कम्पोस्ट प्राथमिकता से उस गांव के कृषकों को निर्धारित मूल्य पर प्रदाय की जाएगी।


कर्ज से दुखी परिवार ने की आत्महत्या

जोधपुर। लॉकडाउन ने लोगों को प्रभावित किया। कई ऐसे भी लोग है जो इससे उबर ही नहीं पाए और मौत को चुन लिया। ऐसे ही एक मामला जोधपुर का आया है। यहां रहने वाले एक परिवार ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली।


परिवार के तीनों सदस्यों के शव पुलिस ने बरामद कर लिए हैं। सुसाइड नोट में परिवार के मुखिया ने कर्ज से परेशान होने की बात कही है। इस परिवार में पिता और पुत्र फर्नीचर का काम करते थे, जबकि पत्नी घर का कामकाज देखती थी। एसीपी नीरज शर्मा ने बताया कि बेटे नितिन ने पहले फंदा लगाया फिर पति राजेंद्र सुथार ने पत्नी इंद्रा का गला घोंट मौत के घाट उतारा।


 



  • सुथार परिवार में राजेन्द्र पत्नी इंद्रा और बेटे नितिन के साथ किराए से रहते थे। पिता और पुत्र फर्नीचर बनाने का काम करते थे और खुद का घर लेना चाहते थे। पर लॉकडाउन के कारण उनका काम पूरी तरह बंद हो गया और नया घर लेना तो दूर उनके लिए कर्ज का ब्याज चुकाना भी मुश्किल हो गया और अंत में पूरे परिवार ने सुसाइड करने का फैसला लिया।

  • गुरुवार की रात तक सब कुछ सामान्य था। राजेन्द्र फैक्ट्री से लौटने के बाद लोगों के साथ बैठे थे, पत्नी इंद्रा खाना खाकर रोज की तरह अन्य महिलाओं के साथ पार्क में इवनिंग वॉक कर रहीं थीं।

  • बेटा नितिन भी फैक्ट्री से आने के बाद दोस्तों के साथ घूमने निकला था। रात साढ़े दस बजे नितिन के दोस्त उसे घर के बाहर छोड़कर गए थे। यहां तक सबकुछ ठीक था। रात 11 बजे तीनों घर गए। सबने साथ खाना खाया। रात 12 बजे के बाद नितिन ने पीछे कमरे में फंदा लगाया। फिर राजेन्द्र ने पत्नी का गला घोंटा व खुद भी फंदे से झूल गया।



  • पुलिस मौके पर पहुंची तब तक टीवी ऑन था। घर में पुलिस को 4 मोबाइल मिले हैं। 2 मोबाइल नितिन के थे। 1 मोबाइल पिता व 1 मां का था। 2 मोबाइल की स्क्रीन टूटी थी।

  • संदेह है कि सुसाइड से पहले पति-पत्नी के बीच झगड़ा हुआ था। पुलिस ने तीनों के शव एमडीएम अस्पताल की मोर्चरी में रखवाए हैं। शनिवार को तीनों शव का पोस्टमार्टम किया गया।


अमरनाथ यात्राः पूजा का लाइव टेलीकास्ट

श्रीनगर। अमरनाथ यात्रा के लिए जम्मू से सड़क मार्ग से हर दिन ​500 यात्रियों को जाने की इजाजत मिल सकती है। वहीं रोजाना होने वाली पूजा का लाइव टेलीकास्ट किया जाएगा। चीफ सेक्रेटरी ने ये जानकारी दी।


श्री अमरनाथजी यात्रा 2020 की तैयारियों की समीक्षा करते हुए चीफ सेक्रेटरी ने कहा कि कोविड 19 महामारी कश्मीर में तेजी से फैल रही है और यह चिंता का विषय है। इसे देखते हुए रोज होने वाली पूजा का लाइव टेलीकास्ट किया जाएगा। वहीं जम्मू कश्मीर आने वाले यात्रियों के लिए मानक संचालन प्रक्रिया के तहत टेस्टिंग अनिवार्य होगी।


अमरनाथ यात्रा को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित एक सब कमेटी की मीटिंग हुई जिसकी अध्यक्षता चीफ सेक्रेटरी बीवीआर सुब्रमण्यम ने की। बैठक में अमरनाथ यात्रा की तैयारियों का जायजा लिया गया। साथ ही कहा गया कि कोविड 19 महामारी को देखते हुए ​प्रतिदिन सिर्फ 500 यात्रियों को जम्मू से सड़क मार्ग से जाने की इजाजत होगी। इसलिए उसी हिसाब से तैयारियां की जाएं।


पीएम ने जवानों का मनोबल बढ़ाया

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी का अचानक लद्दाख पहुंचना सबको चकित कर गया। भारत-चीन तनाव के हालात के बीच पीएम मोदी का का अचानक सीमा पर पहुंच जाना जवानों के जोश को हाई करने का काम कर रहा है। सीमा पर खड़े जवानों ने कहा है कि वह देश के लिए जान देने को तैयार हैं, जैसा वह पहले भी कर चुके हैं। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस(आईटीबीपी) के जवानों का जोश भी पीएम मोदी के लद्दाख दौरे के बाद बहुंत ऊंचा हो गया है।


आईटीबीपी के प्रमुख एस एस देसवाल ने कहा कि सीमा पर खड़े जवानों का मनोबल बहुत ऊँचा है और सेना देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने के लिए तैयार है। इस बीच लद्दाख में चीन के साथ सैन्य गतिरोध जारी है। आईटीबीपी के महानिदेशक (डीजी) ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लद्दाख दौरे और निमू में सैनिकों को दिए उनके संबोधन ने सीमा पर तैनात सभी जवानों का मनोबल बढा दिया है। 


उन्होंने कहा कि देश राष्ट्रीय नेतृत्व, राजनीतिक नेतृत्व, सेना और जवान सभी राष्ट्र के लिए समर्पित हैं। देसवाल ने संवाददाताओं से कहा कि सीमा सुरक्षा और सभी सेनाओं का मनोबल चाहे वह भारतीय सेना हो, वायु सेना या आईटीबीपी हो, बहुत हाई है। देसवाल ने कहा कि सीमा पर जवानों ने अतीत में अपनी जान का कर्तव्य की राह में बलिदान दिया है और वे भविष्य में भी अपना जीवन राष्ट्र को समर्पित करने के लिए तैयार हैं।


भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (ITBP) को मुख्य रूप से देश के पूर्वी हिस्से में चीन के साथ लगी 3,488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) की सुरक्षा का जिम्मा सौंपा गया है। यहां दोनों सेनाओं के जवान तैनात हैं।पूर्वी लद्दाख के गलवन घाटी क्षेत्र और अन्य स्थानों पर चल रहे गतिरोध के दौरान चीनी सेना का मुकाबला करने के लिए सेना के साथ यहां आईटीबापी के जवान भी तैनात रहते हैं। आईटीबीपी ने चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ गतिरोध के मद्देनजर एलएसी के साथ विभिन्न स्थानों पर अपनी संख्या को बढ़ाने के लिए लगभग 30 नई कंपनियों (लगभग 3,000 कर्मियों) को शामिल किया है।


भाजपा जन-संवाद का सिलसिला शुरू

देहरादून। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि कोविड-19 महामारी के हालातों के देखते हुए पार्टी ने वर्चुअल कॉन्फ्रेंस और रैलियों के माध्यम से जन संवाद का सिलसिला शुरू किया है। अध्यक्ष ने बताया कि पार्टी का वर्चुअल माध्यमों से 25 लाख लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य है। प्रदेश में अभी तक 36 विधानसभा क्षेत्रों में वर्चुअल कॉन्फ्रेंस व रैलियां हो चुकी हैं। 70 विधानसभा क्षेत्रों में संगठन और सात मोर्चों के माध्यम से हो रही वर्चुअल रैलियां जारी हैं। ये सिलसिला लगातार जारी रहेगा।


कांग्रेस पर साधा निशाना 
भगत ने कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस आज अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही है। अस्तित्व बचाने के लिए उसके नेता सियासी नौटंकी कर रहे हैं। जिस तरह से कांग्रेस के नेता बैलगाड़ी पर प्रदर्शन कर रहे हैं, मैं उन्हें सलाह देता हूं कि बैलगाड़ी ही चलानी है तो राजस्थान में चलाइये जहां पेट्रोल सबसे अधिक महंगा है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने तंज कसा कि कांग्रेस के भीतर भी संग्राम छिड़ा है। वहां मैं बड़ा और तू छोटा की लड़ाई चल रही है। वहां नेता अपना कदम बड़ा दिखाने के लिए लड़ रहे हैं।


कलेक्ट्रेट में जिला खनिज न्यास की बैठक

हरिद्वार। प्रभारी मंत्री जनपद हरिद्वार सतपाल महाराज ने कलेक्लट्रेट सभागार में जिला खनिज न्यास फांउडेशन ट्रस्ट की बैठक ली। बैठक में ट्रस्ट सदस्य विधायक ममता राकेश तथा विधायक सुरेश राठौर उपस्थित हुए। बैठक में जिलाधिकारी हरिद्वार सी.रविशंकर की उपिस्थति में जिला मजिस्टेªट के निवर्तन में आयी धनराशि को कोविड 19 महामारी के दौरान जनपद हरिद्वार में सुरक्षा तथा बचाव उपायों में प्रयोग कर लिये जाने की बात पर सहमति बनी। अभी तक जिलाधिकारी के निवर्तन में संकलित हुए खनिज कर की कुल धनराशि का 25 प्रतिशत हिस्सा जिले में कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत जिला चिकित्सालय तथा चिकित्सकीय व्यवस्थाओं बढ़ाने पर खर्च किया जायेगा। कोरोना संक्रमितों के उपचार के लिए आवश्यक उपकरण क्रय किये जाने की भी बात कही। जिनमें मेला चिकित्सालय, कोविड चिकित्सालय आदि के लिए आॅक्सीजन सैपरेटर, सेंट्रेलाइज्ड लाॅण्ड्री मशीन तथा वेंटिलेटर आदि का क्रय किया जायेगा। प्रभारी मंत्री ने कोरोना नियंत्रण की स्थिति पर भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग तथा जनपद अधिकारियों ने बेहतर टीम वर्क किया है सभी कार्य संतोषजन हुए हैं। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी विनीत तोमर, मुख्य चिकित्साधिकारी शम्भुनाथ झा, मुख्य शिक्षाधिकारी सहित अनेक विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।


4 किलो चरस के साथ एक गिरफ्तार

आर.के


मनाली। जिला कुल्लू के पतलीकूहल थाने के तहत एक व्यक्ति को पुलिस ने चार किलो 100 ग्राम चरस सहित गिरप्तार किया है। जानकारी के मुताबिक शनिवार रात को पतलीकूहल थाने से पुलिस टीम फागडी ढोग, फ़ोजल रोड में गश्त पर थी। उसी दौरान एक व्यक्ति पिट्ठू बैग डालकर फोजल से डोभी की ओर पैदल आ रहा था । जव उस व्यक्ति ने पुलिस का वाहन आते हुए देखा तो उसने अपना पिट्ठू बैग पहाड़ी से नीचे फेंक दिया । जिससे उस व्यक्ति पर पुलिस को शक हुआ । पिट्ठू बैग की तलाशी लेने पर चार किलो 100 ग्राम चरस की खेत बरामद की ।


व्यक्ति की पहचान विनय कुमार उम्र 29 साल सुपुत्र दिले राम गांव नाही डाकखाना गुशैनी रोपा तहसील और पुलिस थाना बंजार जिला कुल्लू के रूप में हुई है । मामले की पुष्टि करते हुए पुलिस अधीक्षक कुल्लू गौरव सिंह ने बताया कि पुलिस ने व्यक्ति के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर छानबीन की जा रही है। चरस कहां से लाई और कहां ले जाई जा रही थी। इसकी जांच की जा रही है।


चंबा से पांगी तक एचआरटीसी बस सेवा

पांगी।  जिला चंबा के पांगी के चंबा के लिए वाया साच पास दर्रें से एचआरटीसी बस सेवा बाहल कर दी गई है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पांगी से लिए चंबा से आठ माह बाद एचआरटीसी बस सेवा बहाल हुई है। यह बस पांगी से सुबह नौ बजे चंबा के लिए आएगी वहीं चंबा से सुबह पांच बजे जाएगी। एचआरटीसी की यह बस सेवा मौमस पर निर्भर करेगी।


इस संबंध में आरएम केलांग मंगल चंद मनेपा ने बताया कि लोक निमार्ण विभाग द्वारा एचआरटीसी प्रबंधक पांगी का साच पास दर्रें की फिटनेस रिपोर्ट दे दी गई और और बीते दिन से पांगी से चंबा से लिए एचआरटीसी सेवाएं बाहल कर दी गई है। साथ ही उन्होंने बताया कि सवारियों के लिए हेल्पलाईन नंबर जारी किए गए है। जिसकें माध्यम से सवारी अपनी बुकिंग करवा सकता है। 8988598893, 01897242395 वहीं चंबा से पांगी जाने वालो के लिए 01899222210, बस का किराया 304 रूपए प्रति सवारी रहेगा।


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...