बुधवार, 28 सितंबर 2022

सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम 

सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम 

हरिशंकर त्रिपाठी 

देवरिया। जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में दशहरा, ईद-ए-मिलाद/बारावफात, गुरुनानक जयंती, महर्षि वाल्मीकि जयंती सहित आगामी त्योहारों को सौहार्दपूर्ण एवं आपसी भाईचारे के माहौल में मनाएं जाने के दृष्टिगत पुलिस लाइन स्थित प्रेक्षागृह में सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन हुआ। बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि सभी पर्व एक-दूसरे की भावनाओं का सम्मान करते हुए शांतिपूर्ण तरीके से मिलजुल कर मनाये जाने की परम्परा रही है। उसी परंपरा का निर्वहन करते हुए हम सब इस बार भी दुर्गापूजा का त्योहार, मूर्तियों का विसर्जन एवं आने वाले बारावफात त्योहार को भी शांतिपूर्ण एवं सुरक्षित तरीके से मनाया जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि त्योहारों को मनाये जाने के दौरान आम जनमानस की सुविधाओं का विशेष ध्यान रखा जाए। शासन के निर्देशों के क्रम में दुर्गापूजा पांडालों को सड़कों पर न लगाया जाए। पांडाल की वजह से आमजन को आवाजाही में किसी भी तरह की असुविधा न हो, यह सुनिश्चित किया जाए।

डीजे एवं अन्य ध्वनि यंत्रो को निर्धारित ध्वनि सीमा के अंतर्गत ही बजाया जाए। जिलाधिकारी ने कहा कि त्योहारों के दौरान सुरक्षा एवं कानून व्यवस्था का पालन सुनिश्चित करने हेतु प्रशासन पूरी तरह से प्रतिबद्ध है। शांति, सुरक्षा, कानून व्यवस्था, त्योहारों का मूल उद्देश्य भंग करने अथवा किसी भी अन्य तरीके से जैसे-व्हाट्सस्एप, फेसबुक, इन्स्टाग्राम व अन्य किसी सोशल मीडिया पर भ्रामक टिप्पणी करने या किसी भी तरह का अफवाह फैलाने वालों के विरूद्ध त्वरित एवं सख्त कार्यवाही की जाएगी। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद के समस्त मूर्ति विसर्जन स्थलों को चिन्हित कर लिया गया है। मूर्ति विसर्जन स्थलों पर प्रकाश व्यवस्था, बैरिकेडिंग व सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी। जिलाधिकारी ने दुर्गा पूजा समितियों से मूर्तियों के विसर्जन के संदर्भ में सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित करने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि मूर्तियों के निर्माण में प्लास्टर ऑफ पेरिस एवं केमिकल रंगों का प्रयोग न हो। मूर्ति विसर्जन के पश्चात जल प्रदूषण को रोकना हम सभी की जिम्मेदारी है। प्रतिमा निर्माण में प्राकृतिक सामग्रियों का प्रयोग किया जाए।

जिलाधिकारी ने नवरात्रि पर्व सहित अन्य त्योहारों को सकुशल संपन्न कराने के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं जैसे बिजली, पानी, साफ सफाई आदि की व्यवस्था सुनिश्चित कराने हेतु संबंधित विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिया। जिलाधिकारी ने नवरात्रि के दौरान विद्युत व्यवस्था की निर्बाध आपूर्ति बनाए रखने हेतु अधिशासी अभियंता विद्युत को आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राघवनगर सहित ऐसे सभी स्थलों को चिन्हित कर लिया जाए जहाँ मूर्ति विसर्जन के दिन बिजली के लटकते तारों से समस्या हो सकती है। नगर पालिका एवं नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों को नगर क्षेत्रों में तथा जिला पंचायत राज अधिकारी को ग्रामीण क्षेत्रों में साफ-सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखने का निर्देश दिया। पुलिस अधीक्षक संकल्प शर्मा ने कहा कि त्योहारों के दौरान सभी संवेदनशील स्थलों पर सुरक्षा के चाक चौबंद इंतजाम किए जाएंगे। पांडालों एवं रामलीला मंचन स्थलों के निकट पुलिस की गश्त बढ़ा दी गई है।

उन्होंने शांति व्यवस्था बनाये रखने में दुर्गापूजा समितियों से भी सहयोग करने का अनुरोध किया। पुलिस अधीक्षक ने त्योहार को सकुशल संपन्न कराने के दृष्टिगत शासन द्वारा निर्धारित गाइडलाइन की विस्तृत चर्चा करते हुए कहा कि दुर्गा पूजा के दौरान मूर्ति की ऊंचाई ज्यादा न रखें, डीजे पर अश्लील गाने न चलाएं एवं शांति के साथ मूर्तियों का विसर्जन करें। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया विंग पूरी तरह से सक्रिय रहेगी। शांति व्यवस्था में बाधा उत्पन्न करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। मूर्ति विसर्जन स्थल पर गोताखोर तैनात किए जाएंगे। इस अवसर पर इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी रवींद्र कुमार, अपर जिलाधिकारी प्रशासन गौरव श्रीवास्तव, अपर पुलिस अधीक्षक डॉ राजेश सोनकर, एसडीएम सदर सौरभ सिंह, एसडीएम रुद्रपुर ध्रुव शुक्ला, एसडीएम भाटपाररानी संजीव उपाध्याय, एसडीएम बरहज गजेंद्र सिंह, एसडीएम सलेमपुर अरुण कुमार, सीओ श्रीयश त्रिपाठी सहित विभिन्न अधिकारी मौजूद थे।

29 सितंबर को मनाया जाएगा 'वर्ल्ड हार्ट डे'

29 सितंबर को मनाया जाएगा 'वर्ल्ड हार्ट डे'

सरस्वती उपाध्याय 

हर साल दुनिया भर में हृदय रोग से लाखों लोगों की मौंत हो जाती है‌। हार्ट की समस्‍या के प्रति लोगों को जागरूक करने और मौत से बचाने के मद्देनजर वर्ल्‍ड हार्ट फेडरेशन ने ‘वर्ल्‍ड हार्ट डे’ मनाने पर विचार किया। दुनियाभर में इस दिन यह बताने का प्रयास किया जाता है कि हार्ट की बीमारियों से किस तरह खुद का बचाया जा सकता है और आखिर किन लक्षणों को देखकर तुरंत डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए।आइए जानते हैं कि आखिर ‘वर्ल्‍ड हार्ट डे’ का क्‍या इतिहास है और इसे क्‍यों सेलिब्रेट करना ज़रूरी है ?

वर्ल्‍ड हार्ट डे का इतिहास...

‘वर्ल्‍ड हार्ट डे’ हर साल 29 सितंबर को मनाया जाता है।दुनियाभर में हार्ट की बीमारियों से मौत की संख्‍या बढ़ता देख विश्व स्वास्थ्य संगठन और वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन ने मिलकर वर्ल्‍ड हार्ट डे की परिकल्‍पना की। साल 1997 से 1999 तक वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन के अध्यक्ष एंटोनी बेयस डी लूना ने इस पर विचार किया और 24 सितंबर 2000 से 2011 तक इस दिन का अंतरराष्‍ट्रीय दिवस के रूप में मनाया गया। तब यह दिन सितंबर के आखिरी रविवार को मनाया जाता था।

वर्ल्‍ड हार्ट डे का महत्‍व...

दुनियाभर में हर साल करीब 17 मिलियल लोग हृदय रोग (सीवीडी) की वजह से मृत्यु के शिकार हो जाते हैं। इन मौतों का प्रमुख कारण कोरोनरी हार्ट डिजीज या स्ट्रोक रहा है। सीवीडी के बारे में एक आम गलत धारणा यह है कि यह विकसित देशों में अधिक लोगों को प्रभावित करता है, जो प्रौद्योगिकी पर अधिक निर्भर हैं और गतिहीन जीवनशैली जी रहे हैं, जबकि 80% से अधिक मौतें मध्यम आय और निम्न आय वाले देशों में होती हैं।

हार्ट डिजीज होने का मुख्‍य कारण है व्यायाम की कमी, धूम्रपान, खराब आहार आदि। इसके अलावा, उपचार के लिए धन की कमी और सही समय पर इलाज ना करा पाना भी मौत का कारण होती है। ऐसे में हर साल इस अंतरराष्ट्रीय आयोजन में 90 से अधिक देश हिस्सा लेते हैं और इस दिन सीवीडी के बारे में जानकारी के प्रसार के लिए प्रयास करते हैं। इसमें सरकार और संगठनों की भागीदारी अधिक होना ज़रूरी है।

नवरात्रि का चौथा दिन मां 'कूष्माण्डा' को समर्पित 

नवरात्रि का चौथा दिन मां 'कूष्माण्डा' को समर्पित 

सरस्वती उपाध्याय 

शारदीय नवरात्र की चतुर्थी तिथि पर देवी के कूष्मांडा स्वरूप का दर्शन-पूजन करने का विधान है। शास्त्रों के अनुसार, अपनी मंद मुस्कान से पिंड से ब्रह्मांड तक का सृजन देवी ने इसी स्वरूप में किया था। कूष्मांडा स्वरूप के दर्शन पूजन से न सिर्फ रोग-शोक दूर होता है अपितु यश, बल और धन में भी वृद्धि होती है। काशी में देवी के प्रकट होने की कथा राजा सुबाहु से जुड़ी है। देवी कुष्मांडा का मंदिर दुर्गाकुंड क्षेत्र में स्थित है। इन्हें दुर्गाकुंड वाली दुर्गा के नाम से भी जाना जाता है।

किस रंग के कपड़े पहनें...

जातक पूजा के समय लाल, गुलाबी व पीत रंग के वस्त्र धारण करें।

किन राशियों के लिए शुभ...

नवरात्रि का चौथा दिन सभी 12 राशियों के लिए शुभ। विशेषकर मकर और कुंभ राशि के लिए उत्तम।

कौन-सी मनोकामनाएं होती हैं पूरी...

मां कूष्मांडा अपने भक्तों के कष्ट और रोग का नाश करती है। मां कूष्मांडा की पूजा उपासना करने से भक्तों को सभी सिद्धियां मिलती हैं। मान्यता है कि मां की पूजा करने से व्यक्ति के आयु और यश में बढ़ोतरी होती है।


मां कुष्मांडा की पूजा का शुभ मुहूर्त...

नवमी तिथि आरंभ- 29 सितंबर को तड़के 1 बजकर 27 मिनट से शुरू

नवमी तिथि समाप्त- 30 सितंबर सुबह 12 बजकर 9 मिनट तक

विशाखा नक्षत्र- 29 सितंबर सुबह 5 बजकर 52 मिनट से 30 सितंबर सुबह 5 बजकर 13 मिनट तक

अभिजीत मुहूर्त- सुबह 11 बजकर 35 मिनट से दोपहर 12 बजकर 22 मिनट तक।


कैसा है मां कुष्मांडा का स्वरूप ?

मां कुष्मांडा नौ देवियों में से चौथा अवतार माना जाता है। मां कुष्मांडा की आठ भुजाएं होती है। इसी कारण उन्हें अष्ठभुजा के नाम से जाना जाता है। बता दें कि मां के एक हाथ में जपमाला होता है। इसके साथ ही अन्य सात हाथों में धनुष, बाण, कमंडल, कमल, अमृत पूर्ण कलश, चक्र और गदा शामिल है।

ऐसे करें मां कुष्मांडा की पूजा...

इस दिन सुबह उठकर सभी कामों ने निवृत्त होकर स्नान आदि कर लें। इसके बाद विधिवत तरीके से मां दुर्गा और नौ स्वरूपों के साथ कलश की पूजा करें। मां दुर्गा को सिंदूर, पुष्प, माला, अक्षत आदि चढ़ाएं। इसके बाद मालपुआ का भोग लगाएं और फिर जल अर्पित करें। इसके बाद घी का दीपक और धूप जलाकर मां दुर्गा चालीसा , दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। इसके साथ ही इस मंत्र का करीब 108 बार जाप जरूर करें।

पीएम मोदी भी मेरे कैरियर को खत्म नहीं कर सकतें 

पीएम मोदी भी मेरे कैरियर को खत्म नहीं कर सकतें 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन की खुशी में आयोजित की जा रही कार्यक्रमों की श्रंखला के तहत हुए कार्यक्रम में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय सचिव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अपने उद्बोधन में जिक्र कर स्वयं को चर्चाओं के बीच ला दिया है। उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मेरे कैरियर को खत्म नहीं कर सकतें हैं। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के उपलक्ष में महाराष्ट्र भारतीय जनता पार्टी द्वारा कार्यक्रमों की श्रंखला आयोजित की जा रही है। इसी के तहत बीड जनपद के अंबाजोगाई में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने के लिए भारतीय जनता पार्टी की सचिव पंकजा मुंडे को आमंत्रित किया गया था।

मंच संबोधन के लिए मिले आमंत्रण के बाद कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आए लोगों को संबोधित करते हुए पंकजा मुंडे ने कहा है कि अगर मैं लोगों के दिल और दिमाग में निवास करती हूं तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मेरे राजनैतिक कैरियर को खत्म नहीं कर सकते हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि कांग्रेस के भीतर वंशवाद की राजनीति जारी है। जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वंशवाद के शासन की इस परंपरा को खत्म करना चाहते हैं। उन्होंने कहा है कि मैं एक राजनीतिक परिवार से आती हूं लेकिन अगर मैं आम जनमानस के दिल और दिमाग में रहती हूं तो निश्चित तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी मेरे राजनीतिक कैरियर को खत्म नहीं कर सकते हैं।

एक्ट्रेस दीपिका की तबीयत खराब, भर्ती कराया

एक्ट्रेस दीपिका की तबीयत खराब, भर्ती कराया

कविता गर्ग 

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण की 26 सितंबर को तबीयत अचानक खराब हो गई। जिसके बाद उन्हें देर रातमुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालांकि अस्पताल पहुंचने के थोप्दे देर बाद ही दीपिका की हालात में सुधार देखा गया।

बताया जा रहा है कि पिछले दिनों भी 16 जून को दीपिका को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। जिसके बाद उन्हें हैदराबाद के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। उस दौरान उन्हें करीब आधे दिन तक निगरानी में रखा गया था। दीपिका उस समय हैदराबाद में अपनी अपकमिंग फिल्म 'प्रोजेक्ट के' की शूटिंग कर रही थीं। फिलहाल दीपिका की तबीयत ठीक है।

'पीएफआई' को गैरकानूनी संघ के रूप में घोषित किया

'पीएफआई' को गैरकानूनी संघ के रूप में घोषित किया

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने पीएफआई (पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया) और उसके सहयोगियों या मोर्चों को तत्काल प्रभाव से पांच साल की अवधि के लिए एक गैरकानूनी संघ के रूप में घोषित किया। इससे पहले देशभर में पीएफआई के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान उसके 200 से अधिक नेताओं व कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया था। केंद्र सरकार द्वारा आज 5 साल के लिए PFI को बैन और उसके सहयोगियों को गैरकानूनी घोषित करने के बाद शाहीन बाग इलाके में PFI कार्यालय के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। केंद्र सरकार ने बुधवार सुबह पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) को 5 साल के लिए बैन कर दिया। पहले इस संगठन पर दिसंबर तक बैन लगाने की तैयारी थी। PFI के अलावा 8 और संगठनों पर कार्रवाई की गई है। गृह मंत्रालय ने इन संगठनों को बैन करने का नोटिफिकेशन जारी किया है।

गृह मंत्रालय की तरफ से जारी अधिसूचना में पीएफआई के काले कारनामों को पूरा कच्चा चिट्ठा खोलकर रख दिया गया है। बता दें कि दो दिन की रेड के बाद पीएफआई के कम से कम 250 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। एनआईए के छापेमारी में भी कई ऐसे सबूत मिले हैं जिससे पीएफआई के टेरर लिंक की पुष्टि होती है। पीएफआई लंबे समय से एजेंसियों के रडार पर था।

क्या बोले ओवैसी ?

(AIMIM) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि PFI प्रतिबंध का समर्थन नहीं किया जा सकता है…अपराध करने वाले कुछ व्यक्तियों के कार्यों का मतलब यह नहीं है कि संगठन को ही प्रतिबंधित किया जाए।

PFI बैन पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में संलिप्त पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) और उसके अनुषांगिक संगठनों पर लगाया गया प्रतिबंध सराहनीय एवं स्वागत योग्य है। यह ‘नया भारत’ है, यहां आतंकी, आपराधिक और राष्ट्र की एकता व अखंडता तथा सुरक्षा के लिए खतरा बने संगठन एवं व्यक्ति स्वीकार्य नहीं।

कांग्रेस सांसद ने की RSS पर प्रतिबंध लगाने की मांग...

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) पर पांच साल के प्रतिबंध के बाद सियासत शुरू हो गई है। गृह मंत्रालय के फैसेल पर कांग्रेस सांसद ने आरएसएस पर भी प्रतिबंध लगाने की मांग की है। केरल में कांग्रेस सांसद और लोकसभा में मुख्य सचेतक कोडिकुन्निल सुरेश ने इस फैसले पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा, पीएफआई पर प्रतिबंध लगाना कोई उपाय नहीं है। हम आरएसएस पर भी प्रतिबंध लगाने की मांग करते हैं। आरएसएस पूरे देश में हिंदू सांप्रदायिकता फैला रहा है। पीएफआई और आरएसएस एक समान हैं, इसलिए सरकार को दोनों पर प्रतिबंध लगाना चाहिए।

अजय मिश्र टेनी की प्रतिक्रिया...

PFI पर बैन को लेकर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी ने कहा कि NIA के द्वारा जांच की जा रही थी, उसी के अनुरूप ये कार्रवाई की गई है। आने वाले समय में भी जैसे सूचनाएं मिलेंगी उसी के अनुसार कार्रवाई की गई। वहीं, कांग्रेस सांसद द्वारा RSS पर बैन की मांग पर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी ने कहा कि कांग्रेस को राजस्थान में जो कहना चाहिए, वो कह नहीं पा रहे… ऐसी किसी भी बात के लिए जो राष्ट्रविरोधी ताकतों को मदद करने वाली हो वो खुलकर सामने आ जाते हैं। मैं यही कहूंगा कि राष्ट्रनिर्माण में अपना योगदान करें।

अन्य नेताओं की प्रतिक्रिया भी देखें...

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने कहा कि राजस्थान में भी जिस प्रकार कई ज़िलों में दंगा हुआ, उसी समय हम कह रहे थे कि PFI का इसमें हाथ था। यहां पर भी जब सिद्धारमैया कि सरकार था उस समय भी 23 से अधिक लोगों की हत्या हुई थी। देश को अखंड रखने के लिए इसपर (PFI) बैन जरूरी था।

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि मैं भारत सरकार द्वारा PFI पर प्रतिबंध लगाने के फैसले का स्वागत करता हूं। सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए दृढ़ है कि भारत के खिलाफ विभाजनकारी या विघटनकारी डिजाइन से सख्ती से निपटा जाएगा।

PFI बैन पर कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि इस संगठन पर प्रतिबंध लगाने का समय आ गया था। भारत सरकार ने सही फैसला लिया है। यह सभी राष्ट्र विरोधी समूहों के लिए एक संदेश है। मैं लोगों से ऐसे संगठनों से नहीं जुड़ने का आग्रह करता हूं।

PFI बैन पर यूपी के उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि PFI की असामाजिक गैरकानूनी गतिविधियां लगातार जारी थी। विभिन्न जांच एजेंसियां जांच कर रही थी। जो तथ्य प्रकाश में आए हैं उन्हें देखते हुए गृह मंत्रालय ने जो निर्णय लिया है उसकी पूरे देश ने सराहना की है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि PFI के लोग पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगाते हैं, उनको इस देश में ऐसे नारे लगाने का अधिकार नहीं है। केंद्र सरकार ने ये अच्छा फैसला किया है। ये देश भक्तों का देश है और यहां देशद्रोही बयान कोई किसी पर नहीं कर सकता।

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि देश के बाहर बैठे दुश्मनों से देश के अंदर बैठे दुश्मन ज्यादा खतरनाक हैं। PM मोदी ने PFI पर प्रतिबंध लगाकर देश को सुरक्षित रखने का काम किया है। PM द्वारा जो देश का शुद्धीकरण अभियान चलाया जा रहा है, हर भारतवासी उनके साथ है।

PFI बैन पर राजस्थान के मंत्री प्रताप खचरियावास ने कहा कि आतंकवादी गतिविधियों को रोकने के लिए सरकार कोई कदम उठाएगी तो हम सरकार का विरोध नहीं करेंगे लेकिन उस कदम में सच्चाई और ईमानदारी नजर आनी चाहिए। ये बैन आप पहले कर देते। इसकी डिमांड तो मैं पहले उठा चुका हूं। तो आप इतने दिन क्या कर रहे थे।

केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट ने कहा कि देश के हित में जो उचित है वही किया गया है। देश की सुरक्षा का मामला है। देश में सभी लोगों की मांग है कि अराजक तत्व कोई भी हो उनसे देश को बचाया जाए। जो भी कार्रवाई की गई है वो जनहित में की गई है। वो स्वागत योग्य है।

भाजपा नेता एवं केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने पीएफआई व उससे संबद्ध कई अन्य संगठनों पर प्रतिबंध लगाए जाने के केंद्र सरकार के निर्णय की बुधवार को सराहना की। उन्होंने कहा कि यह कदम दर्शाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार उन ताकतों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करती है, जिनका उद्देश्य देश में शांति व स्थिरता को बाधित करना होता है।

PFI पर 5 साल के बैन पर हिमाचल प्रदेश CM जयराम ठाकुर ने कहा कि मैं केंद्र सरकार के इस फैसले का स्वागत करता हूं। भारत में इनकी गतिविधियां संदिग्ध थीं। एक बार नहीं कई बार इसके प्रमाण सामने आए थे और कार्रवाई करने की दिशा में कुछ कदम उठाने की जरूरत थी।इनकी गतिविधियां देश और समाज हित में नहीं है।

केंद्र सरकार द्वारा PFI पर 5 साल का प्रतिबंध लगाने पर त्रिपुरा के सीएम माणिक साहा ने कहा कि देश की अखंडता के लिए ये होना बहुत जरूरी है। इस घोषणा से मैं बहुत खुश हूं।

केंद्र सरकार द्वारा PFI पर 5 साल का प्रतिबंध लगाने पर उत्तर प्रदेश के मंत्री दयाशंकर सिंह ने कहा कि देश की सुरक्षा के लिए ये बहुत बड़ा कदम उठाया गया है मैं इसके लिए केंद्रीय गृह मंत्री और उत्तर प्रदेश की सरकार को धन्यवाद करता हूं।

पीएफआई से जुड़े किन संगठनों पर बैन...

PFI के सहयोगी संगठनों पर भी बैन लगाया गया है। गृह मंत्रालय का कहना है कि पीएफआई ने समाज के विभिन्न वर्गों, युवाओं, छात्रों और कमजोर वर्गों को टारगेट करने के लिए सहयोगी संगठनों की स्थापना की है। इसका एकमात्र उद्देश्य प्रभाव और फंड जुटाने की क्षमता को बढ़ाना है। इन संगठनों में कैंपस फ्रंट ऑफ इंडिया, रिहैब इंडिया फाउंडेशन, ऑल इंडिया इमाम काउंसिल, नेशनल कन्फेडेरेशन ऑफ ह्यूमन राइट्स ऑर्गनाइंजेशन, विमेंस फ्रंट, जूनियर फंर्ट, एंपावर इंडिया फाउंडेशन, रिहैब फाउंडेशन शामिल हैं।

ISIS से लिंक...

गृह मंत्रालय ने नोटिफिकेशन में कहा है कि पीएफआई के वैश्विक आतंकवादी समूहों जैसे कि आईएसआईएस से लिंक के उदाहरण मिले हैं। इससे जुड़ी संस्थाएं देश में असुरक्षा की भावना पैदा कर कट्टरपंथ को बढ़ाने का काम कर रही हैं। पीएफआई के संस्थापक कई सदस्य सिमी के भी सदस्य रह चुके हैं। बता दें कि सिमी भी सरकार की तरफ से प्रतिबंधित कर दिया गया था।

सरकार ने गिनाए काले कारनामे...

सरकार ने पीएफआई के काले कारनामों को गिनाते हुए कहा है कि यह आतंकी मामलों में सामिल रहा है और देश के संवैधानिक प्राधिकार का अनादर करता है और बाहरी स्रोतों से फंड प्राप्त करके भारत की आंतरिक सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने का काम कर रहा है। इसके अलावा यह भी स्पष्ट हुआ है कि पीएफआई हिंसक और विध्वंसक कार्यों में लिप्त है। एक कॉलेज के प्रोफेस का हाथ काटना, अन्य धर्मों का पालन करने वाले संगठनों से जुड़े लोगों की निर्मम हत्या करना, प्रमुख लोगों और स्थानों को निशाना बनाने के लिए विस्फोटक प्राप्त करना और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के सबूत हासिल हुए हैं।

सरकार ने बताया है कि कई लोगों की हत्या में भी पीएफआई का हाथ रहा है। तमिनलनाडु के वी रामलिंगम, केरल के नंदू, कर्नाटक के आर रूद्रेश, प्रवीण पुजारी, तमिलनाडु के शशि कुमार और प्रवीण नेतारू हत्याकांड में भी पीएफआई का ही हाथ रहा है। इसके अलावा पीएफआई के सदस्य सीरिया, ईराक और अफगानिस्तान जाकर आतंकी समूहों में भी शामिल हुए हैं। इसके अलावा पीएफआई हवाला और डोनेशन के जरिए भारत में कट्टरपंथ फैलाने के लिए धन इकट्ठा कर रहा है।

देश में अघोषित आपातकाल: एसडीपीआई

सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (SDPI) ने केंद्र सरकार के फैसले का विरोध किया है। पार्टी की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि पीएफआई पर बैन लगाना भारतीय संविधान और लोकतंत्र पर हमला है। बयान में कहा गया है कि देश में अघोषित आपातकाल लागू है।

लड्डू बांटे और पटाखे फोड़े...

वहीं, महाराष्ट्र के पुणे में MNS (महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना) के कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार द्वारा PFI पर लगाए गए प्रतिबंध का जश्न मनाते हुए स्थानीय लोगों के बीच लड्डू बांटे और पटाखे फोड़े। केंद्र सरकार द्वारा PFI पर 5 साल के प्रतिबंध के बाद कानपुर में जश्न मनाया गया।

RSS पर भी लगे बैन : लालू यादव

RJD के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने पार्टी अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल किया। लालू प्रसाद यादव ने कहा कि PFI पर जांच हो रही है। PFI की तरह जितने भी संगठन हैं सभी पर प्रतिबंध लगाना चाहिए जिसमें RSS भी शामिल है। सभी पर प्रतिबंध लगाया जाए…. सबसे पहले RSS को बैन करिए, ये उससे भी बदतर संगठन है।

पीएफआई पर बैन गलत : सपा सांसद

संभल से सपा सांसद शफीक उर रहमान बर्क ने कहा कि पीएफआई पर बैन गलत है, वह एक राजनीतिक पार्टी है। देश के अंदर जम्हूरियत है, लोकतंत्र है, ऐसी पॉलिटिकल पार्टियां बहुत सी हैं। मेरी राय में ये कदम ठीक नहीं है। उन्होंने कहा कि पीएफआई में जो गिरफ्तारियां हुई हैं, वो भी गलत हैं। उन्होंने कहा, जिस तरह से बीजेपी काम कर रही है। 2024 में जनता उन्हें सबक सिखाएगी।

कानून के मुताबिक कार्रवाई हो : आप सांसद

पीएफआई बैन पर आप सांसद संजय सिंह ने कहा, देश में कोई भी संस्था जो गैर कानूनी काम करती है, नफरत फैलाने का काम करती है, उनके खिलाफ कानून सम्मत कार्रवाई होनी ही चाहिए। जांच एजेंसियों ने जो साक्ष्य जुटाए हैं वे सामने रखेंगे।

बैन हल नहीं : येचुरी

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (एम) के नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि हमें लगता है कि पीएफआई की चरमपंथी गतिविधियां खत्म होनी चाहिए, केरल में पीएफआई और आरएसएस के कार्यकर्तांओं की हत्याओं और जवाबी हत्याओं के कारण हिंसा होती है। दोनों पर रोक लगनी चाहिए। उन्होंने कहा, बैन हल नहीं है. उन्होंने कहा कि गांधी की हत्या के बाद आरएसएस पर तीन बार बैन लगा, लेकिन क्या इससे कुछ रुका।

राहुल गांधी की यात्रा से डरकर लगाया बैन : अधीर रंजन

अधीर रंजन ने यह भी कहा कि महात्मा गांधी की हत्या करने के बाद RSS को प्रतिबंधित किया गया था। इसी आरएसएस और हिंदू संगठनों से जुड़े लोगों को कभी ट्रेन विस्फोट मामले में कभी मस्जिद में विस्फोट में गिरफ्तार किया गया । तब आरएसएस को क्यूं प्रतिबंधित नहीं किया गया। ऐसे में जो अब नीति की बात कर रहे हैं उन्हें अपने अतीत में झांकने की ज़रूरत है। वैसे पीएफआई को लेकर हमें कोई सिरदर्द नहीं है।

कांग्रेस सांप्रदायिकता के खिलाफ : जयराम रमेश

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा से सभी प्रकार के सांप्रदायिकता की खिलाफ रही है, हम बहुसंख्यकवाद या अल्पसंख्यकवाद के आधार पर धार्मिक उन्माद में फर्क नहीं करते. कांग्रेस की नीति हमेशा से बिना किसी डर के, बिना किसी समझौते के सांप्रदायिकता से लड़ने की रही है। हम हर उस विचारधारा और संस्था के खिलाफ हैं जो हमारे समाज का धार्मिक ध्रुवीकरण करने के लिए पूर्वाग्रह, नफरत, कट्टरता और हिंसा का सहारा लेती है। हम भारत के बहुलतावाद को संरक्षित और संवर्धित करने की लड़ाई प्राथमिकता से लड़ रहे हैं और राष्ट्रवादी उत्सव में भारत के सेक्युलर और सामूहिकता के तानेबाने को आगे ले जा रहे हैं।

सबूत अगर हैं तो होनी चाहिए कड़ी कार्रवाई : कमलनाथ

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केंद्र सरकार द्वारा पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) को प्रतिबंधित किए जाने पर आज कहा कि अगर सबूत हैं तो हर संगठन पर कार्रवाई होनी चाहिए, लेकिन पीएफआई अगर पहले से आतंकवादी गतिविधियों में लिप्त रहा तो केंद्र सरकार इतने समय से क्या कर रही थी।

खेल: अर्जेंटीना ने मैच में जमैका को 3-0 से हराया

खेल: अर्जेंटीना ने मैच में जमैका को 3-0 से हराया

मोमीन मलिक 

हैरिसन/ब्यूनस आयर्स। लियोनेल मेस्सी के दो गोल की बदौलत अर्जेंटीना ने फुटबॉल विश्व कप से पूर्व अपने अंतिम अभ्यास मैच में मंगलवार को यहां जमैका को 3-0 से हराया। मेस्सी ने दो गोल किए और इस दौरान दो बार प्रशंसक मैदान पर घुस आए। इस जीत से साथ अर्जेन्टीना का अजेय अभियान 35 मैच का हो गया है। टीम ने पिछले तीन साल में कोई मुकाबला नहीं गंवाया है।

अर्जेंटीना के कोच लियोनल स्कालोनी ने कहा, आपको मेस्सी का लुत्फ उठाना होगा। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपका देश कौन सा है, हर कोई यही करता है। मैं उनका कोच हूं, लेकिन मैं उन्हें देखने के लिए टिकट खरीदूंगा। जूलियन अल्वारेज ने 13वें मिनट में अर्जेंटीना को बढ़त दिलाई। मेस्सी 56वें मिनट में मैदान पर उतरे और उन्होंने 86वें और 89वें मिनट में गोल दागकर अर्जेन्टीना की आसान जीत सुनिश्चित की। मेस्सी के 164 अंतरराष्ट्रीय मैच में 90 गोल हो गए हैं। उन्होंने करियर में 17वीं बार किसी अंतरराष्ट्रीय मुकाबले में एक से अधिक गोल किए।

कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी

कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। पीएम मोदी ने केंद्रीय कर्मचारियों को बड़ी सौगात दी है। कैबिनेट की बैठक में केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी कर दी है। यानी अब केंद्रीय कर्मचारियों को 34 से बढ़कर 38 फीसदी डीए मिलेगा। कैबिनेट कमेटी ऑफ इकोनॉमिक अफेयर्स की बैठक 4 फीसदी डीए पर लगी मुहर से केंद्रीय कर्मचारियों के वेतन में अच्छा इजाफा होगा। सरकार ने केन्द्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में इस वर्ष एक जुलाई से चार प्रतिशत की बढोतरी करने का निर्णय लिया है। अभी केन्द्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 34 प्रतिशत है और इस निर्णय के बाद यह 38 प्रतिशत हो जायेगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुयी केन्द्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार इस बढोतरी से केन्द्रीय राजस्व पर 12852.5 करोड़ रुपये वार्षिक बोझ पड़ेगा। सूत्रों के अनुसार इससे 41.85 लाख केन्द्रीय कर्मचारियों और 69.76 लाख केन्द्रीय पेंशनभोगियों को लाभ होगा। कुल मिलाकर 1.10 करोड़ से अधिक लोगों को इसका लाभ होगा। इससे पहले मोदी सरकार ने मार्च के महीने में 3 फीसदी का महंगाई भत्ते में इजाफा किया था। जिससे 31 फीसदी डीएम कर्मचारियों को मिलने लगा था। लेकिन अब मोदी सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को फिर से तोहफा दिया है।

कांग्रेस पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे, दिग्विजय 

कांग्रेस पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे, दिग्विजय 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हो गई हैं। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव की रेस में दिग्विजय सिंह के होने की बड़ी खबर मिल रही है। जानकारी के मुताबिक, दिग्विजय सिंह भी कांग्रेस पद के लिए नामांकन दाखिल करेंगे। दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा में भी भाग लिया था। राहुल गांधी के साथ लगातार दिखाई दिए थे।

दिग्विजय सिंह के नाम आने से पहले शशि थरूर का नाम सामने आया था। थरूर30 सितंबर को नामांकन दाखिल करेंगे, लेकिन अशोक गहलोत को लेकर अभी भी संशय बना हुआ है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-354, (वर्ष-05)

2. बृहस्पतिवार, सितंबर 29, 2022

3. शक-1944, आश्विन, शुक्ल-पक्ष, तिथि-चतुर्थी, विक्रमी सवंत-2079।

4. सूर्योदय प्रातः 06:20, सूर्यास्त: 06:25। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 22 डी.सै., अधिकतम-34+ डी.सै., उत्तर भारत में भारी बरसात की संभावना है।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु,(विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसेन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

 (सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...