शनिवार, 21 दिसंबर 2019

एयर इंडिया को पांच सौ करोड़ की गारंटी

नई दिल्ली। सरकार ने नकदी संकट से जूझ रही एअर इंडिया के लिये 500 करोड़ रुपये की गारंटी दी है। इससे एयरलाइन को परिचालन संबंधी जरूरतों को पूरा करने के लिये ताजा कोष हासिल करने में मदद मिलेगी।
घाटे में चल रही एअर इंडिया ने पिछले सप्ताह मुख्य रूप से परिचालन जरूरतों को पूरा के लिये कोष जुटाने को लेकर 2,400 करोड़ रुपये की गारंटी मांगी थी। एयरलाइन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने से कहा, सरकार ने एयर इंडिया को 500 करोड़ रुपये की गारंटी दी है। यह एयरलाइन को बुधवार को दिया गया।


उसने कहा कि सरकारी गारंटी से एयरलाइन को कुछ कोष हासिल करने में मदद मिलेगी. एअर इंडिया बैंकों के साथ पहले से कोष को लेकर बातचीत कर रही है। यह गारंटी 7,600 करोड़ रुपये की गारंटी का हिस्सा है जो चालू वित्त वर्ष में एयरलाइन को उपलब्ध करायी जाएगी।
अस्थायी अनुमान के अनुसार एयर इंडिया को 2018-19 में 8,556.35 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। पिछले महीने नागर विमाान राज्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने संसद में कहा था कि अगर एयर इंडिया का निजीकरण नहीं हुआ तो उसे अपना कारोबार बंद करना पड़ जाएगा।


राष्ट्र निर्माण में अड़चनें तो आएगीः मोदी

नई दिल्ली। नागरिकता कानून (CAA) पर देश में हर तरफ बवाल की स्थिति है, विरोध प्रदर्शन के बीच पीएम नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को ASSOCHAM के एक कार्यक्रम में भाग लिया। इस कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि देश के हित के लिए कुछ करना हो तो लोगों का गुस्सा सहन करना ही पड़ता है। ये बातें उन्होंने अर्थव्यवस्था, GST और ईज़ ऑफ डूइंग की रैंकिंग को लेकर कही।


पीएम मोदी ने ASSOCHAM के कार्यक्रम में कहा- '2014 से पहले जब अर्थव्यवस्था तबाह हो रही थी, उसे संभालने वाले तमाशा देख रहे थे।' उन्होंने कहा- 'भारत की अर्थव्यवस्था तय नियमों से चले इसके लिए हमने व्यवस्था में परिवर्तन किया है। आज 5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनोमी के लिए मजबूत आधार बना है। जबतक पूरा देश मिलकर लक्ष्य को तय नहीं करता है, तबतक लक्ष्य पूरा नहीं होता। जब मैंने इस लक्ष्य को रखा तो पता था कि इसका विरोध होगा और कहा जाएगा कि भारत ये नहीं कर सकता।' अर्थव्यवस्था पर बात करते हुए उन्होंने कहा- '5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था की बात अचानक नहीं आई है, पिछले पांच साल में देश मजबूत हुआ है इसलिए ऐसे लक्ष्य को प्राप्त किया जा सकता है। 5-6 साल पहले हमारी अर्थव्यवस्था डिजास्टर की तरफ बढ़ रही थी, लेकिन हमारी सरकार ने इसे रोका है।'


प्रदर्शनों पर रोक लगाएगी सरकारः एचसी

बेंगलुरु। देश में CAA और NRC के खिलाफ विरोध प्रदर्शन चरम पर पहुंच चुका है। पूरे देश में प्रदर्शन हो रहे हैं। लेकिन राज्य सरकार और केंद सरकार प्रदर्शन की इजाजत न देते हुए धारा 144 का प्रयोग कर रही है और इंटरनेट बंद कर रही है। सरकार का तर्क है कि इससे हिंसा को रोका जा सकेगा।
लेकिन धारा 144 के खिलाफ कर्नाटक हाइकोर्ट ने सरकार से सवाल किया है। दी इंडियन एक्सप्रेस खबर के मुताबिक हाइकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश अभय श्रीनिवास ओका ने इस संबंध में याचिका पर सुनवाई करते हुए ने राज्य सरकार से कहा कि 'क्या आप सभी विरोध प्रदर्शनों पर प्रतिबंध लगाएंगे। आप नियमों को पालन करते हुए पूर्व में दी गई अनुमति को कैसे रद्द कर सकते हैं? क्या राज्य इस धारणा के आधार पर निर्णय ले सकता है कि हर विरोध प्रदर्शन हिंसक हो जाएगा? क्या कोई लेखक या कलाकार शांतिपूर्ण विरोध नहीं कर सकता है, यदि वह सरकार के किसी निर्णय से असहमत है?'
हाइकोर्ट ने आगे कहा कि 'ये पता किया जाना चाहिए कि क्या आयोजकों को पूर्व में शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन की अनुमति दी गई थी लेकिन धारा 144 लागू करने के बाद इसे रद्द कर दिया गया था।'
आपको बता दें कि बैंगलोर में बीते गुरुवार को नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे। इतिहासकार रामचंद्र गुहा और शिवाजीनगर कांग्रेस विधायक रिजवान अरशद सहित कई प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में लिया था। कर्नाटक के बेंगलुरु समेत देश के विभिन्न हिस्सों में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ बीते गुरुवार को विरोध प्रदर्शन हुए थे। इस दौरान कुछ जगहों पर हिंसा भी हुई और इन प्रदर्शनों ने दो लोगों की मौत हो गई। यह दो मौत तटीय कर्नाटक के मैंगलोर में हुई थी।


हिंसक प्रदर्शन में संघ साझेदारी की आशंका

कोलकाता। नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में देश के अलग-अलग हिस्सों में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।कहीं शांति से प्रदर्शन हो रहे हैं तो कहीं प्रदर्शन में हिंसा हो रहा है, लोग सड़कों पर हैं। पुलिस बल प्रयोग कर रही है हिंसा रोकने के लिए। इस बीच पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद से छह लोगों को ट्रेन पर पत्थर फेंकते हुए देखा गया था। इनमें से दो लोगों को अब पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। यह छह लोग लुंगी टोपी पहन ट्रेन पर पत्थर बरसा रहे थे। हुलिया से यह सब मुसलमान लग रहे थे।
लेकिन the telegraph अखबार ने इस खबर को सूत्रों के हवाले से लिखा है कि यह लोग राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए लोग हैं। मुर्शिदाबाद के पुलिस अधिकारियों ने the telegraph को बताया कि यहां के राधामाधाब्ताला गांव के लोगों ने 6 लोगों को ट्रेन पर पत्थर मारते हुए पकड़ा। ये 6 लोग सिआल्दाह-लालगोला लाइन पर मौजूद ट्रायल इंजन पर पत्थर फेंक रहे थे। पुलिस ने कहा कि इनमें से एक अभिषेक सरकार (21) एक लोकल भाजपा कार्यकर्ता है। पुलिस ने बातचीत में बताया है कि पकड़े जाने पर ये 6 लोग बोलने लगे कि वे अपने यूट्यूब चैनल के लिए वीडियो शूट कर रहे थे। लेकिन जब उनसे उनके वीडियो चैनल के बारे में प्रूफ मांगा गया, तो वे लोग कोई प्रूफ दे पाने में असफल रहे।
गांव के लोगों ने भी मीडिया को बताया है कि पकड़ा गया शख्स अभिषेक कई मौकों पर भाजपा की रैली में देखा गया है। अख़बार लिखता है कि बीजेपी के छात्र संगठन एबीवीपी के सदस्य 21 वर्षीय अभिषेक सरकार को पांच अन्य युवकों के साथ रेलवे पटरी के पास कपड़े बदलते हुए देखा गया था इसके बाद इन सभी युवकों ने एक ट्रेन के इंजन पर पत्थर बरसाए थे। गांव वालों ने इन युवकों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था।
शुक्रवार को इन्हें लालबाग की अदालत में पेश किया गया जहां अभिषेक के अलावा वीएचपी के सदस्य 22 वर्षीय प्रभाकर साहा को पुलिस कस्टडी में भेजने का आदेश दिया गया। यानी छह में से दो लोगों को पांच दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया है। बाकी के चार लड़के नाबालिग हैं जिनमें से तीन पर गंभीर अपराध के तहत मामला दर्ज कर उन्हें 14 दिन के लिए जेल भेज दिया गया है। एक युवक की तबीयत ख़राब होने की वजह से उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया है। सभी नाबालिग युवकों की उम्र 16-17 साल बताई गई है।
मामले पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी हैरानी जताते हुए कहा है, ”बीजेपी एक समुदाय को बदनाम करने के लिए और बंगाल में आग लगाने के लिए और कितना नीचे गिरेगी।”



नीतीश का आग्रह, एनडीए की आपात बैठक

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशभर में हिंसा और पुलिस कार्रवाई का दौर जारी है। देश के कई राज्यों में हुए उपद्रव के बाद शनिवार को बिहार में भी बवाल देखने को मिला। जिसके बाद एनडीए के सहयोगी बिहार के सीएम और जनता दल युनाइटेड के प्रमुख नीतीश कुमार ने पीएम नरेंद्र मोदी से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) की आपात बैठक बुलाने की मांग उठाई है। नितीश के अनुसार पीएम को विवादास्पद मुद्दों पर सहमति बनाने के लिए सहयोगियों की बैठक बुलानी चाहिए। नीतीश ने कहा कि जेडीयू वर्तमान राजनीतिक स्थिति पर चर्चा के लिए तत्काल एनडीए की बैठक की मांग करती है। गौरतलब है कि जेडीयू ने नागरिकता संशोधन विधेयक को कानून बनाने के लिए संसद में इसके पक्ष में वोट किया था। हालांकि पार्टी उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर द्वारा नागरिकता कानून और एनआरसी का विरोध किए जाने के बाद सूबे की राजनीति में हलचल तेज हो गई। प्रशांत किशोर ने संसद में जेडीयू द्वारा नागरिकता कानून को समर्थन दिए जाने का विरोध किया था। इसके बाद प्रशांत किशोर ने पटना में सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद कहा था कि नीतीश कुमार एनआरसी के विरोध में हैं। तब प्रशांत किशोर ने स्पष्ट कहा था कि सीएए को एनआरसी के साथ जोड़ने से परेशानी बढ़ेगी। किशोर ने उस समय कहा था कि नीतीश ने वादा किया है कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा।


टैक्स कलेक्शन को सरकार एक्शन में आई

नई दिल्ली। आर्थिक सुस्‍ती के बीच मार्च 2020 तक टैक्‍स के लक्ष्‍य को हासिल करने के लिए मोदी सरकार एक्‍शन मोड में आ गई है। दरअसल, सरकार की ओर से टैक्‍स चोरों की पहचान और उन पर मामला दर्ज करने के लिए विशेष प्रयास करने का निर्देश दिया गया है। न्‍यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक वित्त मंत्रालय ने इसको लेकर शुक्रवार को टैक्‍स अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक भी की है। एजेंसी सूत्रों ने बताया कि राजस्व सचिव अजय भूषण पांडे की अध्यक्षता में हुई बैठक में जीएसटी और आयकर विभाग के बीच जानकारी साझा करने पर विचार-विमर्श किया गया है।


इसके तहत ऐसे टैक्‍सपेयर्स की जानकारी साझा की जाएगी, जिन्होंने ज्यादा इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) लिया है लेकिन इसकी जानकारी आयकर विभाग को दिए आयकर रिटर्न से मेल नहीं खाती है। इसके साथ ही आयकर विभाग को जीएसटी से जुड़ी जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी, ताकि जीएसटी के तहत कम कारोबार या गलत तरीके से जीएसटी रिफंड दिखाकर व्यक्तिगत आय को छुपाने और टैक्‍स चोरी करने वालों की पहचान की जा सके।


सूत्रों ने बताया कि अधिकारियों से पिछला बकाया वसूलने के लिए ताबडतोड़ अभियान चलाने के लिए कहा गया है। वहीं टैक्‍स अधिकारियों को आंकड़ों का विश्लेषण और सूचनाएं साझा करके टैक्‍स चोरी करने वालों की पहचान करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके साथ ही उनके खिलाफ मामला दर्ज कर कराने के लिए विशेष प्रयास करने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं जीएसटी अधिकारियों के साथ इन निष्कर्षों को साझा करने के लिए कहा गया है ताकि जानबूझकर टैक्‍स चोरी करने वालों या फर्जी चालान का उपयोग करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई शुरू की जा सके।


हालांकि, अधिकारियों को टैक्‍स चोरों को नहीं बख्शने का निर्देश देने के साथ ही ईमानदार टैक्‍सपेयर्स को परेशान नहीं हो यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है।


सौहार्द स्थापित करने में 'प्रशासन व्यस्त'

वर्तमान परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुए जनपद


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। शांति एवं कानून व्यवस्था तथा आपसी सौहार्द बनाए रखने के उद्देश्य से जिला प्रशासन के अधिकारी गण एवं पुलिस के अधिकारी गण निरंतर रूप से जिला मजिस्ट्रेट अजय शंकर पांडेय के निर्देशन में गतिशीलता के साथ विभिन्न प्रकार की कार्यवाही सुनिश्चित कर रहे हैं। इसी श्रंखला में आज अपर जिलाधिकारी प्रशासन जेके शर्मा के द्वारा जनपद में व्यापक स्तर पर भ्रमण करते हुए प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन के अधिकारियों को कानून एवं शांति व्यवस्था तथा आपसी सौहार्द बनाए रखने के उद्देश्य से आवश्यक दिशा निर्देश प्रदान किए गए। अपर जिला अधिकारी के द्वारा मसूरी थाना क्षेत्र में व्यापक स्तर पर शांति व्यवस्था एवं कानून व्यवस्था के संबंध में स्थल निरीक्षण भी किया गया है। उन्होंने बताया कि जिलाधिकारी के निर्देशन में जनपद का आपसी सौहार्द बनाए रखने के उद्देश्य से जनपद में सेक्टर व्यवस्था लागू है और सभी अधिकारी गण अपनी-अपनी ड्यूटी पर तैनात होकर जनपद की कानून व्यवस्था एवं शांति व्यवस्था बनाने के उद्देश्य से कार्यवाही सुनिश्चित कर रहे हैं। राकेश चौहान जिला सूचना अधिकारी गाजियाबाद।


केंद्रीय योजना प्रसार, विस्तार का आयोजन


अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं जनपद न्यायाधीश गाजियाबाद के निर्देशन में श्री रत्नेश कमलदीप आनंद सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के आदेश पर तहसील विधिक सेवा समिति तहसील सदर गाजियाबाद के क्षेत्राधिकार में ग्राम भवापुर दुर्गा माता मंदिर धर्मशाला, सेवा नगर, वृद्धा आश्रम दुहाई गाजियाबाद में  विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया। जिसकी अध्यक्षता श्रम प्रवर्तन अधिकारी श्रम विभाग एवं मुकेश सैनी जेल विजिटर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण गाजियाबाद ने की संचालन शहजाद अली ने किया। शिविर में उपस्थित ,महेश यादव मोदीनगर ने श्रमिक विधियां ,मध्यस्था केंद्र, लोक अदालत ,निशुल्क वकील की सेवाएं, आदि के संबंध में उपस्थित जनता को जागरूक किया राजस्व निरीक्षक तहसील सदर गाजियाबाद के द्वारा तहसील स्तर से संचालित योजनाओं के बारे में जागरूक  किया,  अभिषेक कुमार समन्वय अधिकारी, कॉमन सर्विस सेंटर गाजियाबाद    के द्वारा प्रधानमंत्री ग्रामीण डिजिटल साक्षरता अभियान के अंतर्गत, निशुल्क कंप्यूटर प्रशिक्षण, एवं  नेशनल पेंशन स्कीम, सीएससी पर संचालित आदि योजनाओं की जानकारी दी गई। 
 बी गिरी भूत पूर्व  प्रबंधक  सिंडिकेट बैंक वित्तीय ज्ञान ज्योति साक्षरता केंद्र वितीय साक्षरता की जानकारी दी।   शिविर का संचालन कर रहे शहजाद अली  के द्वारा टैली ला योजना ,उत्तर प्रदेश पुलिस के द्वारा संचालित यूपी cop एप्स एवं जनसुनवाई ऐप, की जानकारी उपलब्ध कराई। शिविर में उपस्थित डॉ रितु वर्मा वह डॉक्टर संगीता नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सेवा नगर गाजियाबाद के द्वारा आयुष्मान योजना की जानकारी उपलब्ध कराई गई। शिविर की अध्यक्षता कर रहे। मुकेश सैनी जेल विजिटर एवं श्रम प्रवर्तन अधिकारी श्रम विभाग गाजियाबाद के द्वारा प्लास्टिक  बंद  करने की शपथ दिलाते हुए। उत्तर प्रदेश भवन एवं संनिर्माण कर्मकार बोर्ड के द्वारा संचालित योजनाओं की जानकारी उपलब्ध कराई गई तथा इस मौके पर अलग-अलग स्थानों पर लगभग 70 प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना के कार्ड एवं 50 से  60 कार्ड आयुष्मान योजना के अंतर्गत बनाए गए , शिविर में उपस्थित जिला समाज कल्याण अधिकारी, वह वृद्धा आश्रम के कर्मचारी एवं अधिकारी गण उपस्थित रहे।


किसानों के दो लाख तक का लोन माफ

मुंबई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य विधानसभा में कहा कि उनकी सरकार किसानों का 2 लाख रुपये तक के कर्ज को माफ कर दिया है। उन्होंने कहा कि लोन का पैसा सीधे बैंकों में जमा किया जाएगा। यह योजना मार्च से लागू होगी। महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष ने मांग की कि किसानों का 2 लाख नहीं बल्कि पूरा का पूरा कर्ज माफ होना चाहिए। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने विधानसभा में बताया कि इस कर्जमाफी का लाभ 30 सितंबर 2019 तक बकाया लोन पर मिलेगा और यह योजना लागू होगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस योजना को महात्मा ज्योतिबा फुले लोन माफी योजना नाम दिया है। इसके अलावा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने की कि विदर्भ क्षेत्र के सुरजागढ़ में जमशेदपुर जैसा इस्पात संयंत्र लगाया जाएगा। ठाकरे ने विधानमंडल के शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन विधानसभा में कहा,  हम पूर्व विदर्भ क्षेत्र में सुरजागढ़ के समीप जमशेदपुर या भिलाई जैसा इस्पात संयंत्र स्थापित करने की योजना बना रहे हैं।सुरजागढ़ नक्सल प्रभावित गढ़चिरौली जिले में है। यह जिला अपने खनिज भंडार और घने जंगल के लिए जाना जाता है।


हिंसक प्रदर्शन में 15 लोगों की मौत,सख्ती

लखनऊ। उत्तर प्रदेश (UP) में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में हिंसा उफान पर है। सूबे में अब तक हुए हिंसक प्रदर्शनों में कुल 15 लोगों की जान जा चुकी है। इसमें मेरठ में 4, फिरोजाबाद में 2, बिजनौर, कानपुर और संभल में 2-2 व लखनऊ, मुजफ्फरनगर और लखनऊ में 1-1 शख्स की मौत (Death) हुई है। वहीं प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार उपद्रवियों के खिलाफ कारवाई करने के लिए एक्शन मोड में नजर आ रही है। प्रदेश भर में करीब 10000 लोगों पर FIR दर्ज किए गए हैं। 
आरोपियों पर लगाया जुर्माना, नहीं भरने पर संपत्तियां होंगी कुर्क
जबकि 600 से ज्यादा उपद्रवियों को गिरफ्तार किया गया है। अकेले मेरठ जोन में 250 लोग गिरफ्तार किए गए हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को प्रदेश के गवर्नर से मुलाकात की। माना जा रहा है कि दोनों के बीच सूबे के हालात को लेकर चर्चा हुई। बता दें कि योगी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुपालन में सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की है।आरोपियों पर जुर्माना लगाया गया है। जुर्माना नहीं देने पर उनकी संपत्तियां कुर्क की जाएगी। उधर, सीएम योगी की ओर से दोबारा चेतावनी दी गई कि सार्वजनिक संपत्तियों को हुए नुकसान की भरपाई उपद्रवियों की संपत्तियों को जब्त करके की जाएगी।


अयोध्या मास्टर प्लान में क्षेत्रफल को बढ़ाया

अयोध्या। अयोध्या के नये मास्टर प्लान में इर्द-गिर्द के छोटे बड़े 90 गाँव शामिल किये गए हैं। इस सम्बन्ध में मण्डलायुक्त एमपी अग्रवाल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार की बैठक में मास्टर प्लान तैयार करने वाली ऐजेंसी स्टेट साल्टी सिस्टम लिमिटिड कोलकता को एक वर्ष का समय दिया गया है।अयोध्या को भीड़-भाड़ से निजात दिलाने के लिए स्कूलों, कॉलेजों, अस्पतालों, सांस्कृतिक/ऐतिहासिक स्थलों, हैरिटेज एवं हरे-भरे पार्कों को मुख्य मार्ग से जोड़ा जाएगा।


बताते चलें कि, प्रयागराज की तरह साधु-संतों के चित्रों की भव्यता बनाये रखने के लिए पेन्टिंग को नये मास्टर प्लान में शामिल किया गया है। धार्मिक नगरी अयोध्या के सड़को का विस्तार एवं चौड़ीकरण करने का मास्टर प्लान में शामिल किया गया है। आधुनिक सुख-सुविधा से युक्त होटल, रिसोर्ट को भी मास्टर प्लान में जगह दी गई है। मठ मन्दिर, कुंडों के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए उनका जीरणोद्वार, परिक्रमा मार्ग का चौड़ीकरण करना, प्रमुख मार्गों, गलियों के विकास, के साथ जिले के आस-पास पौराणिक एवं धार्मिक स्थलों तक पहुंचने के लिए आवश्यक संसाधनों को मुहैया कराना मास्टर प्लान में शामिल है।


हिंसक घटनाओं पर मुख्यमंत्री हुए नाराज

लखनऊ। लखनऊ और संभल की घटना को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ी नाराजगी जताई है। उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सभी जोन के एडीजी, रेंज के आईजी और डीआईजी व पुलिस कप्तानों से बात कर जरूरी निर्देश दिए है। सीएम ने अधिकारियों को चेतावनी दी, अगर बवाल हुआ तो जिम्मेदारों पर कार्यवाही हो। लखनऊ और संभल के अधिकारियों से नाराजगी जताते हुए योगी ने कहा कि, इन घटनाओं में जो भी जिम्मेदार हैं, उन्हें किसी हाल में न बख्शा जाए।


उन्होंने आरोपियों को वीडियो फुटेज, सीसीटीवी फुटेज और अन्य अभिसूचना तंत्रों से चिह्नित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए है। साथ ही अधिकारियों को शुक्रवार को विशेष सतर्कता बरतने के भी निर्देश दिए गए। जुमे की नमाज के बाद अगर कोई ज्ञापन सौंपता है, तो उसे न रोका जाए। लेकिन अगर कोई कानून अपने हाथ में लेता है तो उससे सख्ती के साथ पेश आयें। ऐसे लोगों को कतई बख्सा नहीं जायेगा। हिंसा बिलकुल भी बर्दास्त नहीं की जायेगी।


'मां-बाप' ने कराया जवान बेटियों से गैंगरेप

हिसार। हरियाणा के हिसार से एक बेहद ही शर्मनाक मामला सामने आया है। यहां पर एक 21 वर्षीय विवाहिता द्वारा अपने माता-पिता पर रिश्तेदारों से उसका और उसकी 14 वर्षीय नाबालिग बहन का गैंगरेप करने का आरोप लगाया गया है। पीड़िता के मुताबिक उसके माता-पिता की शजिश के तहत 3 मौसा और मामा सहित कुल 7 लोग उन दोनों बहनों का लंबे समय से गैंगरेप कर रहे हैं। पीड़िता के मुताबिक जब वह नाबालिग और अविवाहित थी तब से उसके साथ इन लोगों ने समूहिक दुष्कर्म किया। जिसके बाद अब उसकी नाबालिग छोटी बहन के साथ इस घिनौनी हरकत को अंजाम दिया जाता है। 
पीड़िता की मां के भी थी अन्य लोगों के गलत संबंध
पीड़िता के अनुसार एक मौसा ने उससे पहले गांव और फिर राजस्थान के शहर में अपने घर रखकर उसके मां-बाप की मदद से अक्टूबर 2016 से फरवरी 2017 तक रेप किया। पीड़िता के अनुसार जब वह छोटी थी तब वह अपने मायके में रहती थी। उस समय मेरी मम्मी के पास 3 मौसा और कई सारे लोगों का आना-जाना हुआ करता था। इसके बाद जब मैं समझदार हुई तब मुझे इस बात का पता चला कि मेरी मां के साथ उन लोगों के गलत संबंध हैं। इसके बाद जब मैंने इस बात की शिकायत अपने माता-पिता से कि तो उन लोगों ने उल्टा मुझे ही डांटना शुरू कर दिया। फिर फरवरी 2017 में एक युवक मुझे अपनी पत्नी बनाकर ले गया।


मां-बाप की मदद से होटलों में ले जाते थे आरोपी
अब जब वह नवंबर महीने में वापस अपने घर आई तो उमझे इस बात का पता चला कि अब उसकी 14 वर्षीय नाबालिग बहन के साथ उन आरोपियों द्वारा उसी घिनौनी हरकतों को अंजाम दिया जा रहा है, जिसका वो खुद शिकार हो चुकी है। पीड़िता को उसकी बहन ने बताया कि तुम्हारे साथ गलत काम करने वाले लोग अब मां-बाप की मदद से मुझे होटल में ले जाकर मेरे साथ गलत काम करते हैं। इतना ही दूसरे लोगों द्वारा भी मेरे साथ गलत काम करवाया जाता है। इस बात का पता चलने पर पीड़िता ने पुलिस के पास जाकर मामला दर्ज करवाया है। पुलिस ने शिकायत के आधार पर विवाहिता के माता-पिता, गांव के एक व्यक्ति, एक मामा, 3 मौसा और अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।


बहुत दिनों से नहीं नहाई है 'लेडी गागा'

हॉलीवुड एक्ट्रेस और सिंगर लेडी गागा (Lady Gaga) ने हाल ही अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक कन्वर्सेशन शेयर किया है। जो खूब तेजी से वायरल (Viral) हो रहा है। उनकी इस पोस्ट में उन्होंने अपनी मैनेजर की बात शेयर की है। इसमें उन्होंने कहा है कि उन्हें नहीं पता है वह पिछली बार कब है नहाई हैं। उनकी इस पोस्ट को खूब शेयर किया जा रहा है। वहीं यूजर्स इसमें कई तरह के कमेंट कर रहे हैं। उन्होंने बुधवार को ट्विटर (Twitter) पर बॉडी क्लीनलीनेस से जुड़ी एक फनी कन्वर्सेशन साझा की है। इसमें उनकी पर्सनल असिस्टेंट उनसे पूछती हैं, 'आप पिछली बार कब नहाई थीं?' इसके जवाब में लेडी गागा ने कहा है, 'मुझे याद नहीं। इस पोस्ट पर एक यूजर ने लिखा- 'ना नहाने वालों की रानी…LG6 फिजिकल एलबम शरीर की बदबू से भरा होगा।' जबकि कई यूजर्स ने फनी मीम्स शेयर कर उनके ना नहाने का मजाक उड़ाया है। वहीं, लेडी गागा ने अपने ट्वीट के साथ LG6 हैशटैग के जरिए फैंस को यह बताने की कोशिश की है कि वे अपने छठे स्टूडियो प्रोजेक्ट में बिजी हैं। यही वजह है कि उन्हें अपनी हाइजीन की ओर ध्यान देने का भी समय नहीं है।


वाराणसी में मची भगदड़ ,एक गंभीर

वाराणसी। यूपी के वाराणसी (Varanasi) में शुक्रवार को नागरिकता (संशोधन) कानून (सीएए) का विरोध (CAA Protest) कर रहे लोगों पर पुलिस के लाठीचार्ज के बाद बजरडीहा में भगदड़ मच गई। बतौर पुलिस, इस दौरान गली में खेल रहा 8-वर्षीय बच्चा भगदड़ की चपेट में आ गया और अस्पताल में उसकी मौत हो गई। वहीं, भगदड़ में घायल 15 वर्षीय लड़के की हालत गंभीर है। रिपोर्ट्स के अनुसार बच्चे की उम्र आठ साल थी। 
पुलिस द्वारा बताया गया कि मो. वकील का बेटा शबीर घर के पास खेल रहा था। इसी दौरान भगदड़ की चपेट में आ गया और गंभीर रुप से घायल अवस्था में उसे बीएचयू ट्रामा सेंटर ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई। मिली जानकारी के मुताबिक सरकार विरोधी नारेबाजी के बीच पथराव होने पर स्थिति काबू करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इससे भगदड़ मच गई। भगदड़ में 8 पुलिसकर्मियों समेत 19 लोग घायल हो गए। इनमें चार की हालत गंभीर है। इनमें एक बच्चा अति गंभीर बताया गया है। सभी घायलों को बीएचयू ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है।


पाक से आई हेरोइन जब्त,6 गिरफ्तार

अमृतसर। धुंध और कोहरे का फायदा उठाते हुए पाकिस्तान की तरफ से हेरोइन की खेप भेजी जा रही है। ऐसी ही एक बड़ी खेप को पुलिस द्वारा शुक्रवार को बरामद किया गया है। काऊंटर इंटैलीजैंस और खुफिया एजैंसी स्टेट स्पैशल आपरेशन सैल ने हेरोइन की तस्करी के एक बड़े नैटवर्क का भंडाफोड़ कर छह तस्करों को काबू किया है। पकड़े गए तस्करों से 15 किलो हेरोइन बरामद हुई है, जिसकी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत 75 करोड़ रुपए है।


काऊंटर इंटैलीजैंस बार्डर रेंज अमृतसर के एआईजी को सूचना मिली थी कि धुंध के चलते पाकिस्तान की तरफ से हेरोइन की एक खेप भारत में भेजी गई है। इस खेस को तस्कर रमदास और रावी दरिया के नजदीक से उठा कर कुछ तस्कर कार में सवार होकर सप्लाई करने जा रहे हैं। इस सूचना के आधार पर ने थाना रमदास के अंतर्गत आते घोनेवाल के टी-प्वाइंट से स्पैशल नाकाबंदी करके एक स्वीफ्ट कार (नं. पी.बी.30 आर. 9177), 2 मोटरसाइकिल ( नं. पी.बी.02 बी.एक्स. 6954 और पी.बी. 14 बी 8520) पर से 6 व्यक्तियों को काबू किया है।


तस्करों की पहचान बलकार सिंह पुत्र बावा सिंह निवासी खसुपुरा थाना भिंडीसैदा, दलबीर सिंह पुत्र लद्दा सिंह निवासी कोटली दुशनदी थाना भिंडीसैदा, सुरजीत सिंह उर्फ बब्बू पुत्र जोगिंदर सिंह निवासी सैदपुर कलां थाना भिंडी सैदा, बिट्ट सिंह उर्फ सूखा सिंह पुत्र जैमल सिंह निवासी घोगा थाना भिंडीसैदा, भूपिंदर सिंह उर्फ भिंदा पुत्र मुख्तयार सिंह निवासी चीमा कलां थाना सराय अमानत खां, जिला तरनतारन, गुरजंट सिंह पुत्र तरसेम सिंह निवासी चीमा कलां थाना सराय अमानत खां के रूप में हुई। पकड़े गए आरोपियों से 15 किलो हैरोइन बरामद की गई है। आरोपियों के खिलाफ एन.डी.पी.एस. एक्ट के तहत केस दर्ज थाना एस.एस.ओ.सी. अमृतसर में मामला भी दर्ज कर दिया गया है। पकड़े गए तस्करों से पूछताछ जारी है तथा उनसे कई और खुलासे हुए हैं। इन खुलासों की जानकारी काऊंटर इंटैलीजैंस के अधिकारी शनिवार को प्रैस कांफैं्रस के दौरान देंगे।


बिहार में गुंडागर्दी पर उतरे प्रदर्शनकारी

नवादा। बिहार बंद के दौरान जगह-जगह से आरजेडी कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी देखने को मिल रही है। बंद और प्रदर्शन के नाम पर आरजेडी के कार्यकर्ता गुंडई पर उतर गये हैं। नवादा में आरजेडी कार्यकर्ताओं ने थाने पर ही हमला बोल दिया। नवादा के रजौली में उपद्रवियों ने बुंदेलखंड सहायक थाने पर पथराव किया है। उग्र भीड़ ने गुंडई दिखाते हुए थाने को निशाना बनाया है और पत्थरबाजी की है। थाने पर पथराव के बाद पुलिस भी एक्शन में आ गई। जिसके बाद उपद्रवी पुलिस के साथ ही भिड़ गये। पुलिस और प्रदर्शनकारियों में घंटों झड़प हुई। आपको बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ आरजेडी ने आज बिहार बंद बुलाया है। आरजेडी के बिहार बंद का असर राज्यभर में देखने को मिल रहा है। सभी जिलों में आरजेडी के नेता और कार्यकर्ता सड़कों पर उतरकर हंगामा और प्रदर्शन कर रहे हैं।


अच्छे गुजरे 5 साल,लगे रहो केजरीवाल

दिवाकर पाण्डेय


नई दिल्ली। आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर, आम आदमी पार्टी का नया चुनावी नारा का प्रमोचन हुआ, जिसके साथ ही पार्टी ने चुनावी अभियान की शुरुआत की।आपको बता दें कि, दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने AAP विधायकों एवं पार्टी के अन्य नेताओं की मौजूदगी में 'चुनावी नारा: अच्छे बीते पांच साल, लगे रहो केजरीवाल' को संस्थित किया। इसी के साथ सिसोदिया ने कहा कि, यह नारा दिल्ली के नागरिकों  के प्रतिक्रिया पर आधारित है।


बस्ती में सौहार्द और भाईचारा कायम

बस्ती। जिला प्रशासन की मुस्तैदी व सूझबूझ से आज जिले में पूरी तरह के शांति व्यवस्था कायम रही जनपद में कहीं से कोई भी अप्रिय घटना होने की सूचना नहीं मिली। पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों की मुस्तैदी की वजह से शांतिपूर्ण जुम्मे की नमाज मुस्लिम समुदाय भाइयों द्वारा अदा किया गया। कुछ चंद लोगों के द्वारा एनआरसी और सीएए के खिलाफ आज बस्ती जिले में प्रदर्शन हुआ। प्रदर्शनकारियों ने जुमें की नमाज के बाद राष्ट्रगान गाते हुए भारत माता की जय के नारे लगा कर एनआरसी का विरोध किया। मौके पर मौजूद डीएम और एसपी को ज्ञापन दिया। एनआरसी पर जारी विरोध को देखते हुए आज जिले के सभी आला अधिकारियों ने पुलिस बल के साथ मार्च कर लोगों से शांति व्यवस्था बनाए। जाने की अपील की सभी संवेदनशील जगहों पर पुलिस फोर्स तैनात की गई कमिश्नर अनिल सागर आईजी आशुतोष कुमार डीएम और एसपी ने लोगों के साथ चाय पर चर्चा करते हुए शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की कमिश्नर ने कहा की लोगों से यह कहा गया है की अफवाहों पर ध्यान न दें, कई बार दंगे भड़कते हैं तो उन में अफवाहों का बड़ा रोल होता है जिला स्तर पर कई बैठकें बुलाकर लोगों को समझाया गया लोगों से बताया गया है। अगर बाहर का कोई आदमी दिखाई दे तो उस की जानकारी हमें दे ताकि समय रहते हम उन पर कार्रवाई कर सकें आईजी आशुतोष कुमार का कहना है की हमें खुशी है की यहां के लगों को यहां की कानून व्यवस्था और अधिकारियों पर विश्वास है। हम किसी भी सूरत में यहां की स्थिति बिगड़ने नहीं देंगे, हम लोगों ने चाय पर चर्चा कर लोगों के डाउट्स को दूर करने की कोशिश की ।
रिपोर्ट-जितेंद्र कुमार


इंटरनेट सस्पेंड करने की पूरी प्रक्रिया

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन के चलते देश के कई हिस्सों में इंटरनेट अस्थाई रूप से बंद कर दिया गया है। इंडियन काउंसिल फॉर रिसर्च ऑन इंटरनैशनल इकनॉमिक रिलेशन्स समेत दो थिंक टैंक संस्थाओं की रिसर्च के मुताबिक, इंटरनेट बैन करने के मामले में भारत दुनिया भर में सबसे आगे है। मगर क्या आपको पता है कि सरकार इंटरनेट पर बैन लगाने का फैसला कैसे लेती है। इंटरनेट सस्पेंड करने की एक पूरी प्रकिया है, जिसे फॉलो करते हुए इस पर बैन लगाया जाता है। यहां हम आपको बता रहे हैं कि भारत में इंटरनेट कैसे बंद किया जाता है।
देश में इंटरनेट पर कैसे लगता है बैन?


केंद्र या राज्य के गृह सचिव इंटरनेट बैन करने का ऑर्डर देते हैं।
यह ऑर्डर एसपी या उससे ऊपर के रैंक के अधिकारी के माध्यम से भेजा जाता है। उक्त अधिकारी सर्विस प्रोवाइडर्स को इंटरनेट सर्विस ब्लॉक करने के लिए कहता है।
ऑर्डर को अगले कामकाजी दिन (वर्किंग डे) के भीतर केंद्र या राज्य सरकार के रिव्यू पैनल के पास भेजना होता है। इस रिव्यू पैनल को 5 वर्किंग डेज में इसकी समीक्षा करनी होती है। केंद्र सरकार के रिव्यू पैनल में कैबिन सेक्रेटरी, लॉ सेक्रेटरी और टेलिकम्युनिकेशन्स सेक्रेटरी होते हैं। वहीं, राज्य सरकार से दिए गए आदेश के रिव्यू पैनल में चीफ सेक्रेटरी, लॉ सेक्रेटरी और एक कोई अन्य सेक्रेटरी शामिल रहता है।


इमर्जेंसी में क्या होता है?
इमरर्जेंसी की स्थिति में केंद्र या राज्य के गृह सचिव द्वारा अधिकृत किए गए जॉइंट सेक्रेटरी इंटरनेट बैन करने के लिए आदेश दे सकते हैं। हालांकि, इसके लिए उन्हें 24 घंटे के भीतर केंद्र या राज्य के गृह सचिव से इसकी मंजूरी लेनी पड़ेगी।


2017 से पहले अलग नियमःसाल 2017 से पहले जिले के डीएम इंटरनेट बंद करने का आदेश देते थे। 2017 में सरकार ने इंडियन टेलिग्राफ ऐक्ट 1885 के तहत टेम्प्ररी सस्पेंशन ऑफ टेलिकॉम सर्विसेज (पब्लिक इमरजेंसी या पब्लिक सेफ्टी) रूल्स तैयार किए। इसके बाद अब सिर्फ केंद्र या राज्य के गृह सचिव या उनके द्वारा अधिकृत अथॉरिटी इंटरनेट बंद करने का आदेश दे सकते हैं।


फैक्ट्री में दर्दनाक हादसा, एक की मौत

सोनीपत। शहर के इंडस्ट्रियल एरिया स्थित एक केमिकल फैक्ट्री में बृहस्पतिवार देर रात स्टीम प्लेट फटने से एक मजदूर की मौत हो गई, जबकि तीन अन्य घायल हो गए।


हादसे की सूचना मिलने पर पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची। फैक्ट्री मालिक नितिन गुरुदत्ता को भी बुलाया गया। घायल मजदूरों की पहचान उत्तर प्रदेश के देवरिया जिला के ककरा निवासी कमल व दुर्गेश एवं उत्तर प्रदेश के गुजराती पुरवा निवासी मनीष के रूप में हुई, जबकि इंडस्ट्रियल एरिया निवासी कॉलिंग (32) की मौत हो गई। सभी घायलों को नागरिक अस्पताल में दाखिल कराया गया, जहां से प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें पीजीआइ रोहतक रेफर कर दिया गया। शव को कब्जे में लेकर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।


अधिकारियों की कार्यशैली से असंतुष्ट मेयर

रोहतक। रोहतक नगर निगम ने अपना एक साल का कार्यकाल पूरा कर लिया है। हालांकि मेयर मनमोहन गोयल कामकाज से कुछ खास खुश नजर नहीं आ रहे है। मेयर होते हुए कोई पावर ना होने की टीस उनकी बातों में देखने को मिल रही है। मेयर मनमोहन गोयल का कहना है कि उनके हाथ में कुछ नहीं है, वह शहर की बड़ी समस्या सीवरेज और पानी के समाधान का प्रस्ताव बनाते हैं, लेकिन अधिकारी अमल नहीं करते।


साल भर में हाउस की सिर्फ दो बैठक हुई। कई पार्षद और पूर्व पार्षद हाउस की कम बैठक को लेकर अपना रोष व्यक्त कर चुके है। इस पर मेयर का कहना है कि बैठक आयुक्त को बुलानी होती है। लेकिन आयुक्त व्यस्तता का हवाला देकर टालते रहे। गोयल ने कहा कि शहर की सीवरेज, पानी, बिजली आदि समस्याओं का समाधान करने के लिए सभी को मिलकर काम करना होगा। हाउस की बैठक होगी और अधिकारी मेयर व पार्षदों की बात सुनेंगे तभी बात बनेगी।


314 लेखपालों के विरुद्ध कार्रवाई


कुशीनगर। जनपद के लेखपालों द्वारा विभिन्न मागो को लेकर काफी दिनों से ज़िला मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन किया जा रहा था ।जिला प्रशासन ने धारा 144 व एस्मा कानून के उल्लंघन के मद्देनजर 314 लेखपालों पर देर शाम बड़ी कार्यवाई करते हुए निलम्बन के साथ एफआईआर भी दर्ज कराई गई है ।
जिले की सभी तहसीलों के लेखपाल अपनी विभिन्न मांंगो को लेकर जिला मुख्यालय पर कई दिनों से धरना व प्रदर्शन करने वाले 314 लेखपालो को जिला प्रशासन ने गम्भीरता से लेते हुये। देर शाम निलंबित व बर्खास्तगी की कार्यवाही के लिए आनन-फानन मे नोटिस भी जारी कर दिया है। इस कार्यवाही से लेखपाल संगठन आहत है ।
पडरौना कोतवाली में धारा144 व एस्मा कानून के उलंघन मे के खिलाफ 17 नामज़द व अन्य सभी लेखपालों पर मुकदमा  एसडीएम रामकेश यादव पडरौना ने दर्ज कराया हैं।


अतिक्रमण हटाओ अभियान रहा असफल

एसडीएम के आदेश पर तीर्थनगरी के  फब्बारा चौक से अतिक्रमण तहत हटाये गये ठेले फिर से लगे


नरेश शर्मा
बृजघाट। तीर्थनगरी मे चौराहे पर फैले अतिक्रमण को हटाने का एसडीएम के आदेश का पालन करते हुए नगरपालिका कर्मचारियों ने फब्बारा चौक पर लगे ठेलो को हटा दिया गया ।लेकिन एक सप्ताह भी नही बीता कि एसडीएम के आदेशो का उल्लंघन करते हुए फिर से फब्बारा चौक पर ठेले लगे ।प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के स्वच्छता के प्रति नगरों को साफ सुथरा  व अतिक्रमण मुक्त करने के परिपालन मे गढमुक्तेश्वर के एसडीएम विजय बर्धन तोमर ने तीर्थनगरी मे फैले अतिक्रमण हटाने का आदेश दिया के अंर्तगत नगरपालिका के कर्मचारियों ने फब्बारा चौक को पूर्णतया मुक्त करा दिया और लगने वाले सभी ठेलो को हटाने दिया गया ।लेकिन ठेलो वालो की हठधर्मिता व मुठमर्दी देखिये कि फिर से फब्बारा चौक पर ठेले लगा लिए । देखना यह है कि एसडीएम के आदेश  के द्वारा हटाये गये फब्बारा चौक से ठेलो को फिर से किसके आदेश से फब्बारा चौक पर लगवाया गया है।यह एसडीएम के आदेश का उल्लंघन है।


बवाल रोकने में प्रशासन की तत्परता

अतुल त्यागी जिला प्रभारी
रिंकु सैनी रिपोरटर


हापुड़। जमीयत उलेमा हिंद-हापुड के द्वारा हापुड़ में भी सी.ए.ए.के विरोध में ज्ञापन देने आए लोगों में शामिल शरारती तत्वों ने पुलिस द्वारा कई बार रोकने के बावजूद भी हापुड़ तहसील पर प्रदर्श न करना शुरू कर दिया और पुलिस बल पर पथराव भी शुरू कर दिया। इसके बाद हापुड़ नगर सीओ राजेश कुमार सिंह ने तत्परता दिखाते हुए। न्यूनतम लाठी चार्ज करा कर, इकट्ठा हुए असामाजिक तत्वों को तितर-बितर कर दिया। पीछे से आ रही भीड़ को बुलंदशहर रोड पर ही रोक दिया गया। जिसके चलते एक बड़ा हादसा हापुड़ शहर में होने से बच गया। मौके पर उनके साथ हापुड़ सदर एस.डी.एम. सत्य प्रकाश, हापुड़ नगर कोतवाली प्रभारी अवनीश गौतम द्वारा सटीकता से कुछ देर के लिए खराब हुए माहौल पर नियंत्रण कर लिया गया।
 हापुड़ जनपद के सभी आला अधिकारी भी मौके पर पहुंचे और मुस्लिम समाज के नेताओं से ज्ञापन लेने के पश्चात भीड़ को वहां से हटवा दिया गया।


डीएम ने किसान दिवस का आयोजन किया

पंकज राघव संवाददाता 


संभल। कलेक्टर सभागार बहजोई में जिलाधिकारी अविनाश कृष्ण सिंह की अध्यक्षता में किसान दिवस का आयोजन किया गया। जिसमें सभी किसानों ने अपनी अपनी समस्या को बताया और जिलाधिकारी ने समस्या का समाधान करने के निर्देश दिए जिसमें उन्होंने किसानों को पराली न जलाने की अपील की और उन्होंने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों को सख्त हिदायत दी किसानों की समस्याओं को लेकर कोई भी लापरवाही ना की जाए और उन्होंने कहा कि गन्ना भुगतान शीघ्र से शीघ्र किया जाए जिससे किसानों को किसी प्रकार की समस्या ना हो उन्होंने कहा कि किसान हमारे देश की रीड की हड्डी है यदि किसान को परेशानी होती है तो उसकी परेशानी का विशेष हमें भी कहीं ना कहीं जेल नहीं पड़ता है किसान गोष्ठी में मौजूद किसानों ने बीना शुगर मिल पर गन्ना भुगतान न किए जाने को लेकर जिलाधिकारी के समक्ष अपनी बात रखी जिलाधिकारी ने गन्ना अधिकारी को निर्देश दिए कि किसानों के गन्ना भुगतान शीघ्र से शीघ्र किया जाए इस बीच में विकास अधिकारी उमेश कुमार त्यागी सहित जिला स्तरीय अधिकारी मौजूद रहे।


भालू के हमले से गई दो की जान

खरसिया। आज सुबह -सुबह ग्राम देवगाँव से सूती ग्राम के बीच नाला के पास एक जंगली भालू ने एक व्यक्ति के ऊपर हमला कर दिया और उसको पूरी तरह से मारकर शव से सर को अलग कर दिया, घटना के कुछ घंटे बाद अभी फिर से 11.30 बजे लगभग दूसरे व्यक्ति के ऊपर हमला कर दिया जिसके कारण उक्त दूसरे व्यक्ति की भी मौत हो गयी हैं। 
पुरे अगल बगल के गाँवो में दहशत का माहौल बन गया है रस्ते में आने जाने से लोग डर रहे है लोगो का कहना है की जब तक पागल भालू को वनविभाग पकड़ नहीं लेती तब तक सभी आने जाने वाले लोगो के ऊपर खतरा मंडरा रहा है क्योकि समय देखकर भालू लगातार हमला कर रहा हैं, पागल भालू नाले के निचे छिपकर बैठा हुआ है ।


यूं ही कोई बेहया.. (संपादकीय)


 रही होगी उनकी भी कोई मजबूरी ग़ालिब
 यूँ ही कोई बेहया नहीं होता ..


सुबह बहुत ठंड थी। तो ऑफिस जरा देर से आया। मीठी सी धूप निकली हुई थी और मेरा सहयोगी यश अभी तक भी आया नहीं था। मैं इंतजार करने के लिए ऑफिस के सामने एक 'जनरल स्टोर' है । वहां खड़ा होकर धूप सेकने लगा । देखा तो पड़ोस में रेलवे से रिटायर्ड कृष्ण गोपाल चतुर्वेदी एक गली के आवारा कुत्ते को पकड़ कर उसकी आंखों में आई ड्रॉप डाल रहे थे। यह दृश्य देखकर मैंने कहा अंकल थोड़ा संभल के कहीं काट न ले। तो अंकल बोले - इनके काटे का इलाज तो 14 इंजेक्शन है बेटा और यह बेवजह किसी को नहीं काटते । कभी कभी अनजाने में ही सही इंसान ही एक ऐसा जानवर है जो बेवजह काटता है। वह भी ऐसा की जिसका कोई इलाज नहीं होता।
मां कसम अंकल की यह लाइन खोपड़ी में घर कर गई। मैन पूछा *बेवजह कैसे अंकल ?
उन्होंने अपने जीवन का एक ऐसा अनुभव मेरे साथ शेयर किया जो मैं इस ब्लॉग के माध्यम से आपको बताना चाहता हूं। कृष्ण गोपाल चतुर्वेदी रेलवे से रिटायर्ड है। उन्होंने बताया कि सन् 1980 और 84 के बीच में उन्हें रेलवे बोर्ड ने उन्हें रेलवे विजिलेंस अफसर के पद पर 4 साल तक काम किया है। 1 दिन एक वरिष्ठ अधिकारी ने उन्हें बुलाया और कहा कि इस गाड़ी का रेलवे टीटी है । जो बहुत गहरी हदों तक भ्रष्टाचार कर रहा है। और पूरी की पूरी बोगी की सीटें बेच देता है। जिस उसे काली कमाई होती है। सीधे-साधे आदेश हुए कि इस टीटी को ट्रैप करना है, और मजबूत केस बनाना है। ताकि उसे पद से  हटाया जा सके। जिस पर कृष्ण गोपाल चतुर्वेदी ने बाकायदा योजना बनाई और उस भ्रष्ट टीटी की पड़ताल की। पड़ताल में यह ज्ञात हुआ कि वह वाकई पूरी की पूरी बोगी ऊपर ही ऊपर बेच देता है। जिसकी एक भी रसीद नहीं काटता है। चतुर्वेदी ने योजनाबद्ध तरीके से इस विषय में ज्ञात सभी चीजें मय सबूतों के अपने सीनियर अधिकारी को डॉक्यूमेंटेशन करके भेज दी। थोड़े दिनों बाद जब उस अधिकारी को रंगे हाथों पकड़ा जाने वाला था। तब कृष्ण गोपाल चतुर्वेदी को यह ज्ञात हुआ कि उस टीटी के 5 बेटियां थी। जोकि शादी की उम्र के करीब थी। और उसकी बीवी अक्सर बीमार रहती थी। कोई बेटा ना होने के कारण उस टीटी पर परिवार की जबरदस्त जिम्मेदारी सर पर बनी हुई थी। इस जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए वह यह भ्रष्टाचार कर रहा था। जैसे ही चतुर्वेदी को यह पता पड़ा तो उन्हें यह लगने लगा कि कहीं उनका बनाया हुआ यह केस इस  पांच बेटियों की जिम्मेदारी के तले दबे परिवार को सड़क पर न ले आये। चतुर्वेदी तुरंत अपने सीनियर अधिकारी के पास गया और कहा - सर आपने मुझे जो कहा उस आदेश की पालना मैंने कर दी। कानूनी और व्यवहारिक रूप से मैंने अपना फर्ज बखूबी निभा लिया। परंतु जब से मुझे उस टीटी की परिवारिक स्थिति का पता चला है , मुझे कहीं ना कहीं अंदर अपराध बोध खा रहा है की कही मेरे हाथों से कोई अनर्थ तो नहीं हो जाएगा ? आप अगर वाकई उस व्यक्ति को इस भ्रष्ट आचरण की सजा देना चाहते हैं। तो उसे रेलवे प्लेटफार्म पर कोई ऐसी जिम्मेदारी दे दें ताकि उसे आर्थिक लेनदेन से दूर रखा जाए। और उसकी नौकरी ना जाए । इससे रेलवे को भी नुकसान नहीं होगा और अपनी परिवारिक मजबूरियों के चलते ऐसा भ्रष्ट आचरण करने वाले अधिकारी को सबक भी मिलेगा। उन पांच बेटियों को भी नुकसान नहीं होगा । मोटे तौर पर विजिलेंस का अधिकारी होते हुए भी चतुर्वेदी ने एक तरह से अघोषित रूप से अपने सीनियर अधिकारी से उस भ्रष्ट टीटी को नौकरी से न हटाने की सिफारिश कर डाली थी। जिसके बाद चतुर्वेदी जी के निजी आग्रह पर उस टीटी को नौकरी से नहीं हटाया गया । और वही किया गया जो चतुर्वेदी ने कहा। आगे अपनी बात कहते हुए चतुर्वेदी जी ने कहा कि उसके बाद भी मेरे कार्यकाल को विजिलेंस में 1 साल बाकी रह गया था । इस घटना से वह इतना आहत हुए कि उन्हें यह लगने लगा था कि उन्होंने इससे पहले जितने भी अधिकारियों को इस तरह से पकड़ा होगा कहीं उनके भी परिवारों में ऐसी मजबूरियां ना रही हों ? यह सोचकर वह एक दिन अपने वरिष्ठ अधिकारी के पास गए और कहा कि - साहब मुझे विजिलेंस से हटा दीजिए। मुझे ये काम नहीं करना। मुझसे अब यह नहीं होगा। वरिष्ठ अधिकारियों के लाख समझाने पर भी चतुर्वेदी जी ने विजिलेंस की पोस्ट 1 साल पहले छोड़ दी। आज चतुर्वेदी की उम्र 70 साल प्लस है। वह खुद रिटायर हैं। और पंचशील नगर हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी के बी ब्लॉक में बड़ी शांति की जिंदगी जी रहे हैं।


इस किस्से ने सोचने पर मजबूर कर दिया कि चतुर्वेदी जी ने सही किया या गलत ? उनके नजरिए से तो शायद यह बिल्कुल सही था। फिर पूरे किस्से में गलत कौन था ? क्या वह अधिकारी जो अपनी पांच बेटियों की शादी के लिए भ्रष्टाचार कर रहा था ? या फिर ये समाज ? जो इस तरह से एक बाप को भ्रष्ट आचरण करने पर मजबूर करता है। वो भी केवल महंगी शादी करने के लिए।
आये दिन मैं खुद भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे अधिकारियों की खबरें लिखता हूँ और पढ़ता भी हूँ । लेकिन ये किस्सा सुनने के बाद कुछ देर के लिए क़लम थम सी गयी है ।
 *यह किस्सा सुनकर सचमुच दिमाग का दही हो गया है। बस मिर्ज़ा ग़ालिब की लिखी बड़ी सटीक पंक्तियां याद आ रहीं हैं जिनमें कभी कहा गया था।


 "रही होगी उनकी भी कोई मजबूरी, ग़ालिब"
"फिर यूं ही कोई बेहया नहीं होता ..


नरेश राघानी


यमुना नदी के जल समझौते पर हस्ताक्षर

नई दिल्ली-शिमला। हिमाचल प्रदेश के यमुना नदी के हिस्से का पानी दिल्ली सरकार को बेचने के सन्दर्भ में आज नई दिल्ली में दोनों राज्यों के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।समझौता ज्ञापन पर प्रदेश के सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य विभाग के सचिव डाॅ. आर.एन. बत्ता और दिल्ली सरकार की प्रधान सचिव मनीषा सक्सेना ने हस्ताक्षर किए।


डाॅ. बत्ता ने बताया कि 1994 में दोनों राज्यों के बीच हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन के मुताबिक हिमाचल प्रदेश को यमुना के पानी का तीन प्रतिशत हिस्सा मिला है, लेकिन वर्ष 1994 से इस पर कोई दावा नहीं किया गया है। दिल्ली सरकार के आग्रह पर हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल ने हाल ही में यमुना के पानी का अपना हिस्सा दिल्ली को बेचने का निर्णय लिया था। इसके परिणामस्वरूप हिमाचल सरकार को सालाना 21 करोड़ रुपये प्राप्त होंगे।उन्होंने कहा कि देश में यह पहली बार है कि दो राज्यों के बीच इस प्रकार का समझौता हुआ है।


जयवीर सिंह हंस


निकाय भ्रष्टाचार पर विजिलेंस का संज्ञान

पावटा साहिब। गत दिनों नगर पालिका में रिश्वतखोरी को लेकर वायरल वीडियो के मामले में विजिलेंस ने संज्ञान लेकर जांच शुरू कर दी है। यह बात आज एक पत्रकार वार्ता में आईजी विजिलेंस जेपी सिंह ने कही उन्होंने कहा कि उन्होंने भी नगर पालिका में रिश्वतखोरी व भ्रष्टाचार के मामले की वीडियो देखी है तथा इस मामले में उन्होंने जांच के आदेश दे दिए हैं। गौरतलब है कि गत दिनों नगर पालिका उपाध्यक्ष नवीन शर्मा द्वारा एक सफाई ठेकेदार से ₹10000 लेते हुए वह नगर पालिका अध्यक्ष कृष्णा धीमान के पति शशि धीमान  द्वारा पैसों की मांग किए जाने की वीडियो वायरल हुई थी। जिसके बाद शहर में सहित प्रदेश में काफी हंगामा हुआ था।


गत दिवस कांग्रेस ने भी एक लिखित शिकायत डीएसपी को सौंपी थी जिसमें आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई थी। इस मामले में यदि कार्रवाई होती है तो नगरपालिका के पूर्व उपाध्यक्षव अध्यक्षा के प्रति श्रीमान का जेल जाना तय माना जा रहा है। वहीं इस मामले में पावटा भाजपा की किरकिरी भी होती नजर आ रही है। जहां एक और विवादों के बाद मंडल अध्यक्ष बने अरविंद गुप्ता ने अपनी किरकिरी करवा ली है। क्योंकि उन्होंने ही कह दिया था कि कोई जांच नहीं होगी। जबकि मैं खुद ही विवादों के बाद मंडल अध्यक्ष बने हैं तथा आईपीएच विभाग में उन पर भ्रष्टाचार के आरोप लग रहे हैं। ऐसे में अब देखना होगा कि अगली बारी कहीं पावटा साहिब भाजपा के मंडल अध्यक्ष अरविंद गुप्ता की तो नहीं लग जाती और वे  भाजपा के लिए एक सिरदर्द बन कर सामने आने वाले हैं।क्यूंकि भाजपा के लोग उनको ठिकाने लगाने के लिए तेयार बैठे है।


विरोध के बीच हिंसक घटना, बाजार बंद

रिपोर्ट- शमशाद चौधरी


कैराना। मुजफ्फरनगर में विरोध के बीच हुई हिंसक घटना के बाद कैराना में दोपहर बाद एकाएक बाजार बंद हो गए। हालांकि, कुछ देर बाद फिर से बाजार खुलने लगे।


शुक्रवार को सीएए के विरोध में मुजफ्फरनगर में हिंसा के बाद कैराना में अफवाह फैल गई, जिसके बाद यहां मुख्य चौक बाजार में धड़ाधड़क दुकानों के शटर गिरने लगे। यहां सुबह से ही चौक बाजार पूरी तरह से खुला हुआ था। कुछ देरी के लिए बाजार बंद होने के बाद फिर से दुकानें खुल गई। इस बाजार में दिनभर खासी चहल-पहल भी देखने को मिली। पुराना बाजार दिनभर रहा बंद, चौक बाजार व अन्य बाजार सुबह से ही पूरी तरह से खुले हुए रहे। लेकिन, पुराना बाजार में व्यापारियों ने अपनी दुकानें बंद रखी, जिसके चलते बाजार में दिनभर सन्नाटा पसरा रहा।


देर शाम तक कैराना में डटे रहे डीएम-एसपी


कैराना। नागरिकता संशोधन कानून पर कई जिलों में हिंसक घटनाओं के बाद कैराना में शांति व्यवस्था बरकरार रखने के लिए देर शाम तक डीएम व एसपी डटे रहे। शुक्रवार को सुबह करीब नौ बजे ही डीएम अखिलेश सिंह व एसपी विनीत जयसवाल कैराना कोतवाली पहुंच गए थे। जहां पर उनके द्वारा जहां पैदल मार्च किया गया, वहीं वे पल-पल की गतिविधियों पर कड़ी नजर रखे हुए थे। देर शाम तक भी डीएम व एसपी कैराना में ही डटे रहे। यहां फिलहाल माहौल शांतिपूर्ण है।


प्रदर्शन से रेलवे को 88 करोड़ का नुकसान

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देशभर में भड़के उग्र प्रदर्शन के कारण रेलवे को भारी नुकसान हुआ है। रेलवे के अनुसार  88 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है, इसमें पूर्वी रेलवे जोन में 72 करोड़, दक्षिण पूर्व रेलवे जोन में 13 करोड़ और नॉर्थईस्ट फ्रंटियर जोन में 3 करोड़ रुपए की संपत्ति का नुकसान हुआ है। रेलवे सुरक्षा बल के डीजी अरुण कुमार ने कहा है कि पश्चिम बंगाल में हालात सबसे बदतर है, यहां बड़े पैमाने पर पूर्वी रेलवे है और केवल यहां 72 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। शनिवार को रेलवे ने जोन वार अपने नुकसान का ब्यौरा दिया।
Ad


बंगाल में सबसे ज्यादा हावड़ा, सीलदह और माल्दा प्रभावित हुआ। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की नागरिकता कानून के खिलाफ रैली के बाद रेलवे की संपत्ति पर तेजी से हमला हुआ। हालांकि अब यहां हालात बेहतर हैं, रैली के बाद किसी तरह की कोई हिंसा नहीं हुई। रेलवे ने हिंसक घटनाओं को लेकर 85 एफआईआर दर्ज की हैं,जिसमें रेलवे के 12 कर्मचारी घायल हुए थे। अरुण कुमार के अनुसार ऐसे लोग हैं जिनकी पहचान हिंसा के वीडियो के जरिए हुई है और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। पूर्वोत्तर में 2200 अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है। बता दें कि नागरिकता संसोधन कानून के विरोध में देशभर में प्रदर्शन हो रहा है। प्रदर्शनकारी कई स्थानों पर ट्रेनों को रोक रहे हैं, उनमें तोड़फोड़ कर रहे हैं।


आरजेडी के बंद का 'बिहार में असर'

अणिमा वत्स अनु माही की रिपोर्ट


पटना। नेशनल हाइवे जाम से आम लोगों को काफी परेशानी हो रही है आपको बता दें कि आज RJD का बिहार बंद है और सुबह से ही इस बंद का असर दिखना शुरू हो गया है। ये RJD का बिहार बंद है और सबसे पहले तेजस्वी यादव ने गुजारिश कि बंद को शांतिपूर्ण रखना है और स्वास्थ्य संबंधी गाड़ियां जैसे कि एंबुलेंस आदि को नहीं रोकना है। स्थितियों के अनुसार बिहार बंद के दौरान पटना, हाजीपुर, अररिया, आरा आदि जगहों पर लोगों ने हंगामा किया, आम लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। प्रत्येक चौराहे पर लोग तोड़फोड़ और आगजनी कर रहे हैं।


बवाल में कई राउंड फायरिंग, 24 घायल

पटना।इस वक्त की बड़ी खबर पटना के फुलवारीशरीफ से आ रही है, जहां बिहार बंद के दौरान दो गुट आपस में भिड़े गए और देखते ही देखते दोनों तरफ से फायरिंग होने लगी।


घटना फुलवारीशरीफ के टमटम पड़ाव के संगत पर की है।खबर के मुताबिक इस झड़प में दो लोगों को गोली लग गई है और 24 से अधिक लोग घायल हो गए हैं। खबर के मुताबिक बताया जाता है कि संगत पर प्रदर्शनकारियों और स्थानीय लोगों से झड़प हो गई। जिसके बाद दोनों तरफ से पथराव और फायरिंग होने लगी। जिसमें दो लोगों को गोली लगने की खबर है और 24 से अधिक लोग घायल हो गए। मामले की जानकारी मिलते ही घटनास्थल पर सिटी एसपी अभिनव राज पहुंच हालात को काबू करने में जुटे हैं। दोनों तरफ से स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।


ड्रेनेज में डूबकर 4 बच्चियों की मौत

सहरसा। जिले के नवहट्टा प्रखंड क्षेत्र के दिबरा में साग तोड़ कर घर लौट रही चार बच्चियों की शुक्रवार की शाम को डूबने से मौत हो गयी। चार बच्चियों की डूबने से मौत की खबर से परिजन और ग्रामीणों में कोहराम मच गया है। वहीं, घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे अंचलाधिकारी ने आपदा कोष से चार-चार लाख मुआवजा देने की बात कही है।


जानकारी के मुताबिक, जिले के नवहट्टा प्रखंड क्षेत्र के दिबरा निवासी पुरुषोत्तम ठाकुर की आठ वर्षीया पुत्री प्रीति कुमारी, माधवेंद्र ठाकुर की दस वर्षीया पुत्री अभिलाषा कुमारी व कोमल कुमारी और सुरेश यादव की 11 वर्षीया पुत्री अंजलि कुमारी सहित एक अन्य लड़की अपनी सहेलियों के साथ शुक्रवार को खेत में साग तोड़ने गयी थी। साग तोड़ कर जब सभी बच्चियां घर लौट रही थी, तो ड्रैनेज पार करते समय अधिक पानी में चले जाने के कारण चार बच्चियों की डूबने से मौत हो गयी। वहींं, एक बच्ची तैर कर ड्रैनेज से निकल गयी। उसी ने हो-हल्ला किया, तो ग्रामीण मौके पर जुटे. मौके पर स्थानीय ग्रामीणों की मदद से चारों शवों को बरामद कर लिया गया। शव मिलते ही परिवार वालों में कोहराम मच गया है।


अमिर झा


बैंक मैनेजर को बंधक बनाकर लूटा

बक्सर। बिहार के बक्सर जिले में बेखौफ अपराधियों नेदक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक में दिनदहाड़े 11 लाख रुपए डकैती को अंजाम दिया। घटना औद्योगिक थाना क्षेत्र के सोनवर्षा इलाके की है। सूचना मिलते ही एसपी उपेंद्र नाथ वर्मा मौके पर पहुंचे और घटनास्थल पर छानबीन की। 


पुलिस ने बताया कि शुक्रवार सुबह करीब साढ़े 10 बजे बैंक खुलते ही 3 नकाबपोश अपराधी बैंक में घुस आए। अपराधियों ने बैंक कर्मचारियों को बंधक बना लिया और मैनेजर, कैशियर को पिस्टल दिखाकर लॉकर की चाभी मांगी। अपराधियों ने लॉकर खोलकर उसमें रखे 11 लाख 10 हजार रुपए निकाल लिए और एक बैग में रखकर चलते बने।
बैंक मैनेजरकी सूचना पर मौके पर पहुंचे एसपी ने कहा कि बक्सर के बॉर्डर इलाके पर सभी गाड़ियों को चेक करने का आदेश दिया गया। अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम गठित की गई। सीसीटीवी फुटेज की जांच की जा रही है। अपराधी जल्द पुलिस गिरफ्त में होंगे।


कैसे सजाएं क्रिसमस ट्री ?

सैंटा क्लॉज, जिंगल बेल्स, गिफ्ट्स, केक और चारों तरफ रेड और वाइट कलर की थीम- ये सारी चीजें आपको किस त्योहार की याद दिलाती हैं तो आप कहेंगे क्रिसमस। जी हां, एक बार फिर क्रिसमस का त्योहार सेलिब्रेट करने का मौका आ गया है। क्रिसमस फेस्टिवल में अब सिर्फ 5 दिन का समय बाकी है लिहाजा आपने भी अपनी पार्टी की तैयारियां जरूर शुरू कर दी होंगी। और बात जब क्रिसमस की आती है तो सबसे ज्यादा ध्यान क्रिसमस ट्री पर रहता है क्योंकि उसके बिना तो आपके सेलिब्रेशन अधूरा रह जाएगा ना। ऐसे में हर एक जैसी लाइट्स यै कैंडल्स से क्रिसमस ट्री को सजा-सजाकर बोर हो चुके हैं तो कुछ यूनीक और इनोवेटिव आइडियाज ट्राई करें… 
फूड आइटम्स से सजाएं क्रिसमस ट्री
जी हां इस बार आप चाहें तो अपनी क्रिसमस ट्री को इडेबल्स यानी खाने-पीने की चीजें जैसे- सेब, नट्स, चॉकलेट्स और दूसरे फूड आइटम्स से सजाएं। यकीन मानिए आपके फैमिली मेंबर्स के साथ-साथ मेहमानों को भी आपका ये आइडिया जरूर पसंद आएगा।
रंग-बिरंगे पॉम पॉम से सजाएं 
कुछ क्रिएटिव आइडिया अगर दिमाग में न आ रहा हो तो बाजार से रंग-बिरंगे पॉम पॉम खरीद कर लाएं और उनसे अपनी क्रिसमस ट्री को सजाएं। आप चाहें तो पॉम पॉम के साथ रंगे-बिरंग ऊन से बने बॉल्स का इस्तेमाल करके भी अपनी क्रिसमस ट्री को सजा सकते हैं। 
कलर पैलेट के हिसाब से सजाएं ट्री 
हर बार रेड ऐंड वाइट कलर कॉम्बिनेशन रखने की बजाए इस बार कुछ अलग करें और अपनी क्रिसमस ट्री को कलर थीम के हिसाब से सजाएं। ब्लू ऐंड वाइट, रेड ऐंड गोल्ड, पिंक और ग्रीन, जो कलर थीम आपको सबसे ज्यादा पसंद हो उसी कलर पैलेट को चुनें और उन्हीं रंगो के हिसाब से अपनी क्रिसमस ट्री को डेकोरेट करें।
फूलों से सजाएं क्रिसमस ट्री 
अगर आपको एक्सपेरिमेंट करना अच्छा लगता है कि तो आप इस साल अपनी क्रिसमस ट्री को फ्लोरल लुक भी दे सकती हैं। अपनी पसंद के वाइट या रेड कलर के फूलों से क्रिसमस ट्री को सजाएं। यह एक बेहद इको-फ्रेंडली तरीका भी है क्रिसमस ट्री को डेकोरेट करने का। 
फैमिली मेंबर्स की तस्वीर से सजाएं 
परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ बिताए गए खूबसूरत और फेवरिट मोमेंट्स की यादगार तस्वीरें और प्रिंटआउट निकाल लें और उन्हीं से क्रिसमस ट्री को सजाएं। यह भी एक बेहतरीन तरीका है क्रिसमस पार्टी के मौके पर ट्री को डेकोरेट करने का।


फोमो यानी पीछे छूटने का डर

फोमो यानी फियर ऑफ मिसिंग आउट या देसी भाषा में कहिए तो पीछे छूट जाने का डर। अगर आपको भी ऐसा डर हर समय सताता रहता है तो आप मेंटल डिसऑर्डर का शिकार हो चुके हैं। आमतौर पर लोगों के इस डिसऑर्डर की वजह उनके सोशल मीडिया अकाउंट्स होते हैं…
तुलना जारी रहती है
मनुष्य का स्वभाव है कि हम अपनी तुलना लगातार दूसरों से करते हैं। हमें अक्सर लगता है कि दूसरों के पास जो चीजें हैं, वे हमसे बेहतर हैं और इसी सोच के चलते हम खुद को कमतर आंकने लगते हैं। हमारी यह मानसिक दिक्कत उस समय और अधिक बढ़ जाती है, जब कोई इंसान कुछ नया या बड़ा हासिल कर लेता है।
हमारे साथ बुरा ही होता है
फोमो के शिकार लोगों को अपने जीवन में आई छोटी-सी तकलीफ भी ऐसी लगती है कि जैसे कितना बड़ा हादसा हो गया है। उन्हें लगता है कि दुनिया में जितनी भी परेशानियां हैं वे सब उनकी लाइफ में आ गई हैं।
फोमो ग्रसित की स्थिति
मुख्य रूप से फोमो वह मानसिक स्थिति है, जो लोगों के मन में दूसरे लोगों की लाइफ से बाहर होने या उनकी लाइफ में अपनी अहमियत खोने के डर से जुड़ी है। यह लोगों में मिसिंग आउट होने का डर पैदा करती है।
कम्पल्सिव डिजायर
फोमो एक कम्पल्सिव डिजायर है, इसमें दूसरे लोगों की लाइफ से हर समय जुड़े रहने की इच्छा होती है। खासतौर पर सोशल मीडिया के माध्यम से। ऐसे लोगों को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम या मास विडियोज के द्वारा दूसरे लोगों की लाइफ में अपनी अहमियत देखते रहना पसंद होता है और उनकी जिंदगी से जुड़े रहना अच्छा लगता है।
लाइक और रिऐक्शन का गेम शुरू
फोमो के शिकार लोग हर समय सोशल मीडिया पर यह चेक करते रहते हैं कि दूसरे लोग क्या पोस्ट कर रहे हैं, उनकी लाइफ में क्या नया हो रहा है या हमारी पोस्ट पर लोग किस तरह से रिऐक्ट कर रहे हैं? हमारी पोस्ट पर कितने लाइक मिले हैं?
बढ़ती परेशानियों की वजह
कई स्टडीज में यह बात सामने आ चुकी है कि हर समय सोशल मीडिया पर ऐक्टिव रहनेवाले लोग कई तरह की मानसिक बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। ऐसे लोगों को ऐंग्जाइटी, मूड स्विंग्स, लोनलीनेस, असुरक्षा की भावना, आत्मविश्वास में कमी, सामाजिक असुरक्षा या चिंता, बहुत अधिक नकारात्मकता और डिप्रेशन जैसी बीमारियों का भी सामना करना पड़ रहा है।
ऐसे आएं फोमो से बाहर 
फोमो के कारण पिछले कुछ वर्षों में ऐंटिडिप्रेशन दवाइयों की खपत कई गुना बढ़ चुकी है। इस परेशानी से बचने के लिए सबसे पहले जरूरी है कि आप सोशल मीडिया का इस्तेमाल कम करें। वर्जुअल दुनिया में नहीं वास्तविक दुनिया में अपना दायरा और लोगों तक अपनी पहुंच बढ़ाएं। स्थिति ना संभलने पर सायकाइट्रिस्ट्स की मदद जरूर लें।


सर्दी में तिल के लड्डू है लाभकारी

शीत लहर ने दस्तक दे दी है। ठण्डी हवा से बचने जहाँ गर्म कपड़ों की जरूरत होती है, उससे अधिक जरूरत ऊर्जा युक्त ऐसे खाद्य पदार्थ भी जरूरी हैं जिनके सेवन से सर्दियों में चुस्त दुरुस्त रहा जा सकता है।


इनमें तिली के बने मीठे लड्डू और संबंधित अन्य खाद्य पदार्थ बेहद उपयोगी हैं। सर्दियों में अपनी तासीर की वजह से तिली के लड्डू न केवल ताकत और ऊर्जा का खजाना हैं बल्कि बादाम, काजू अखरोट आदि ड्रायफूड की तुलना में सस्ते भी होते हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक तिली और गुड़ का मिश्रण सेहत के लिये खास तौर पर वरदान साबित होता है।


विशेषज्ञों के मुताबिक तिल के अलावा गर्म तासीर वाली खाद्य वस्तुओं जैसे मूंगफली, पिण्ड खुजूर का का इस्तमाल भी सेहत के लिये फायदेमंद होगा। दरअसल सर्दी बढ़ने के साथ ही साथ लोगों के खान पान में बदलाव आया है। इसमें सबसे ज्यादा तिल के व्यंजनों को लिया जाता है। तिल शरीर को गर्मी देने के साथ ही शरीर को तंदुरुस्त रखता है और यह शारीरिक गरमाहट भी पहुँचाती है। सर्दी के बढ़ते ही तिल के कारोबार में भी रौनक आयी है। बाजारो में विभिन्न प्रकार के तिल के व्यंजनों की खूब बिक्री हो रही है।


गुड़ की गजक, बीकानेर की तिल पपड़ी, अजमेर की डाईफ्रूट गजक, पिस्ता गजक, तिल के लड्डू सहित अन्य सामग्री की डिमाण्ड बढ़ती जा रही है। आमतौर पर शरद ऋतु आते ही तिल के व्यंजन बाजारों में बिकना आरंभ हो जाते हैं, लेकिन इस बार सर्दी कुछ लेट आने से इनके व्यंजनों पर भी प्रभाव पड़ा है। बाजारों में तिल ने अब जोर पकड़ा है। वही माना जाता है की मकर संक्रांति पर तिल के व्यंजन बनाना शुभ रहता है। चीनी और गुड़ दोनों में गजक को बनाया जाता है, लेकिन गुड़ की गजक को ज्यादा पसंद किया जा रहा है। इतना ही नहीं तिल के लड्डू की डिमांड भी दिनों दिन बढ़ती ही जा रही है।


सर्दी बढ़ने के साथ ही गजक की दुकानों पर भीड़ के साथ ही कई प्रकार की गजक व तिल के लड्डू भी उपलब्ध हैं। सर्दियों में तिल शरीर के रोग को दूर करने के साथ फायदेमंद भी साबित होता है।


कुछ लोगों को लगती है ज्यादा ठंड

सर्दियों में जहाँ कुछ लोग शॉटर््स और टी-शर्ट में आराम से घूमते रहते हैं वहीं कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो तीन स्वेटर पहनने के बाद भी कांपते रहते हैं।


अगर आपको लगता है कि ठण्ड का ही असर लोगों पर अलग – अलग होता है तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है, पसीने के मामले में भी ऐसा होता है। कुछ लोगों को पसीना इतना आता है कि लगता है कि वे पानी में भीगकर आ रहे हैं वहीं कुछ लोग हमेशा तरोताजा दिखते हैं। क्या आपको पता है कि ज्यादा गर्मी या सर्दी लगना हेल्थ प्रॉब्लम की ओर इशारा है?


ये हो सकती हैं वजहें : कई हेल्थ रिपोटर््स की मानें तो कुछ फेक्टर्स हैं जिन पर ध्यान नहीं जाता लेकिन गर्मी या ज्यादा सर्दी लगने के पीछे एनीमिया, कुपोषण, इन्फेक्शन, वजन से जुड़ी समस्या (ज्यादा या कम होना) यहाँ तक कि साईलेंट थायरॉयड भी वजह हो सकती है।


डॉक्टर से करें बात : ऐसी समस्याओं से बचने के लिये नियमित चेकअप और डॉक्टर से खुलकर बात करना बेहद जरूरी है। हम डॉक्टर के पास तभी जाते हैं जब हम ज्यादा बीमार होते हैं। हमें कण्डीशन खराब होने तक इंतजार नहीं करना चाहिये बल्कि एक या दो महीने में चेकअप करवाते रहना चाहिये।


तनाव या गुस्सा भी वजह : तनाव की वजह से आपको गर्मी या सर्दी लग सकती है। तनावपूर्ण स्थिति जैसे झगड़ा, व्यस्तता या वर्कलोड जैसी वजहों से आपके नॉर्मल तापमान में फर्क आ सकता है। उदाहरण के तौर पर ऑफिस में जब सभी ठण्ड से ठिठुर रहे हैं और आपको तेज गर्मी लगने लगे तो इसकी वजह आपकी किसी दोस्त या परिवार के सदस्य से लड़ाई भी हो सकती है।


उदास होने पर लगती है ठण्ड : हेल्थ और दूसरे फिजिकल फेक्टर्स के अलावा किसी भी मौसम को ज्यादा फील करने के पीछे आपकी भावनात्मक स्थिति भी एक वजह हो सकती है। एक्सपटर््स की मानें तो जब लोग उदास या अकेले होते हैं तो वे ज्यादा कांपते हैं। यह भी कह सकते हैं कि जब हमारे हार्ट कोल्ड होते हैं तो हम भी वैसा ही महसूस करते हैं।


ज्यादा सर्दी या गर्मी फील करने से कैसे बचें : हमें सबसे पहले इसके पीछे की वजह पता करनी होगी। कुछ तरीके हैं जिनसे सर्दी या ज्यादा पसीने को कंट्रोल किया जा सकता है। इसके लिये कपड़ों और खानपान में बदलाव करना एक तरीका है।


दिमाग को दें ट्रेनिंग : अलग – अलग मौसमों में कुछ खास तरह के फूड्स हमारे अंदर सर्दी या गर्मी का बैलेंस बनाते हैं। उदाहरण के तौर पर सर्दियों में सूप या कॉबोर्हाईड्रेट से हम शरीर को गर्म रख सकते हैं। वहीं गर्मियों में हरी और पत्तेदार सब्जियां राहत दे सकती हैं। आखिर में ज्यादा गर्मी या सर्दी से बचने का तरीका यह भी है कि अपने दिमाग को इसके लिये ट्रेनिंग दें। इमेजिन करें कि आप गर्म स्थान पर हैं इससे ठण्डॉर्फिन रिलीज होता है जो शरीर मे गर्माहट लाता है।


भारतीय टीम को झटका, दीपक बाहर

कटक। भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज दीपक चहर कमर के निचले हिस्से में तकलीफ की वजह से वेस्टइंडीज के खिलाफ तीसरे और निर्णायक वनडे मैच से बाहर हो गए हैं। दीपक चहर की जगह तीसरे वनडे मैच के लिए नवदीप सैनी को टीम इंडिया में शामिल किया गया है।


दीपक चहर का वेस्टइंडीज के खिलाफ कटक वनडे से पहले चोटिल होना बड़ा झटका है। बीसीसीआई ने एक बयान जारी कर बताया कि विशाखापत्तनम में खेले गए दूसरे वनडे मैच के बाद चहर ने पीठ के निचले हिस्से में दर्द की शिकायत की थी। जिसके बाद मेडिकल टीम ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है।


भारत ने वेस्टइंडीज को विशाखापत्तनम के एसीए-वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम में खेले गए दूसरे वनडे मैच में 107 रनों से मात देकर तीन मैचों की वनडे सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली है।सीरीज का पहला मैच वेस्टइंडीज ने 8 विकेट से जीता था, जिसके बाद दूसरे वनडे में भारत ने 107 रनों से मेहमान टीम को मात देते हुए वापसी की। अब सीरीज का आखिरी और निर्णायक मुकाबला 22 दिसंबर को कटक में खेला जाएगा।इससे पहले शिखर धवन और भुवनेश्वर कुमार भी चोट के चलते वनडे सीरीज से बाहर हो चुके हैं। धवन की जगह मयंक अग्रवाल और भुवनेश्वर की जगह शार्दुल ठाकुर को टीम में मौका मिला था।


तीसरे वनडे के लिए भारतीय टीम-विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल, लोकेश राहुल, श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), मनीष पांडे, शिवम दुबे, शार्दुल ठाकुर, केदार जाधव, रवींद्र जडेजा, युजवेंद्र चहल, कुलदीप यादव, नवदीप सैनी, मोहम्मद शमी।


थरूर के ट्विट पर विवाद, डिलीट किया

तिरुवनंतपुरम। नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी को लेकर केंद्र सरकार को घेरने निकले कांग्रेस के दिग्‍गज नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर खुद ही फंस गए। थरूर ने केरल के कोझिकोड में होने वाले प्रदर्शन को लेकर ट्वीट किया जिसमें उन्‍होंने पाक अधिकृत कश्‍मीर (पीओके) और अक्‍साई चिन को भारत का हिस्‍सा नहीं दिखाया। अपने इस ट्वीट के बाद थरूर ट्रोल होना शुरू हो गए हैं और बीजेपी ने भी उन पर निशाना साधा है। बढ़ते विवाद के बाद शशि थरूर ने अपने विवादित ट्वीट को डिलीट कर दिया।


थरूर ने शुक्रवार देर रात एक ट्वीट कर कहा कि वह कल केरल कांग्रेस के कोझिकोड में होने वाले प्रदर्शन का नेतृत्‍व करेंगे। सभी का स्‍वागत है। इस ट्वीट के साथ शशि थरूर ने एक प्रदर्शन का एक पोस्‍टर भी ट्वीट किया जिसमें जिला कांग्रेस कमिटी के कोझिकोड के कार्यक्रम के बारे में बताया गया था। इसी पोस्‍टर में भारत का एक नक्‍शा बनाया गया जिसमें पीओके को भारत का हिस्‍सा नहीं दिखाई गया था।


सोशल मीडिया पर ट्रोल
कांग्रेस नेता के इस ट्वीट के बाद वह सोशल मीडिया पर ट्रोल होना शुरू हो गए। संदीप अरालकर ने लिखा कि इसकी शशि थरूर से अपेक्षा नहीं थी जिनके पास अंतरराष्‍ट्रीय मामलों का अच्‍छा अनुभव है। यह अच्‍छा होगा कि थरूर अपनी गलती स्‍वीकार कर लें और इसे सही कर लें। समयुक्‍तान ने लिखा, 'विडंबना देखिए। शशि थरूर भारत को बचाना चाहते हैं, वह भी हमारे देश के अभिन्‍न हिस्‍से लद्दाख को छोड़कर।'


शाह ने इतिहास का अध्ययन नहीं किया : शशि थरूर


बीजेपी ने भी अधूरे नक्‍शे को लेकर थरूर पर हमला बोला है। बीजेपी के प्रवक्‍ता संबिता पात्रा ने ट्वीट कर थरूर से माफी मांगने के लिए कहा। उन्‍होंने लिखा, 'ऐसा क्‍यों है शशि थरूर कि आपकी पार्टी और उसके वर्कर जिस भारत के नक्‍शे का विज्ञापन कर रहे हैं, उसे अधूरा क्‍यों रखा है…क्‍या यह कांग्रेस का भारत को तोड़ने, बांटने और बर्बाद करने का आइडिया है? क्‍या थरूर को भारत की प्रतिष्‍ठा कम करने के लिए माफी नहीं मांगनी चाहिए?'


बीजेपी के राष्‍ट्रीय महासचिव सुनील देवधर ने कहा कि कांग्रेस हिंसात्‍मक विरोध प्रदर्शन को भड़काकर संघर्ष कर रही है, क्‍या यह आइडिया ऑफ इंडिया है जो शशि थरूर भारत का अधूरा नक्‍शा पोस्‍ट कर रहे हैं? धीरे-धीरे उनका असली चेहरा सामने आ रहा है। यह स्‍वाभाविक है कि वे इस तरह के आपराधिक कृत्‍यों के द्वारा भारत विरोधी ताकतों को खुश कर रहे हैं।


बैंक केवाईसी में बताना पड़ सकता है धर्म

बेंगलुरु/मुंबई। बैंक जल्द ही अपने नो योर कस्टमर (KYC) फॉर्म्स में एक नया कॉलम जोड़ सकते हैं, जिसमें उसके जमाकर्ता या ग्राहक को अपने धर्म का उल्लेख करना होगा। विदेशी मुद्रा विनिमयन अधिनियम (FEMA) के नियमों में बदलाव की वजह से बैंकों के लिए यह जरूरी हो गया है। नियमों में बदलाव मुसलमानों को छोड़कर चुनिंदा धार्मिक अल्पसंख्यकों को एनआरओ अकाउंट खोलने तथा संपत्ति खरीदने की सुविधा देने के लिए किया गया है।


अनिवासी साधारण रुपया बचत खाता (NRO) अनिवासी भारतीयों के लिए भारत में बचत या चालू खाते की सुविधा है, जिसमें वे भारत में कमाई गई रकम को जमा कर सकते हैं।


म्यांमार, श्रीलंका तथा तिब्बत के लोग नहीं
नागरिकता (संशोधन) अधिनियम की तरह ही, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा 2018 में जारी फेमा में संशोधन उन प्रवासियों तक सीमित किया गया है, जो पाकिस्तान, बांग्लादेश तथा अफगानिस्तान के अल्पसंख्यक समुदायों (हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी तथा ईसाई) से आते हैं और लॉन्ग-टर्म वीजा रखते हैं। लॉन्ग टर्म वीजा रखने वाले ये लोग भारत में रिहायशी संपत्ति खरीद सकते हैं और बैंक खाता में खोल सकते हैं। संशोधित नियमों में नास्तिकों, मुसलमान प्रवासियों तथा म्यांमार, श्रीलंका तथा तिब्बत के प्रवासियों को नहीं रखा गया है।


शेड्यूल 3 में संशोधन
फेमा (डिपॉजिट) रेग्युलेशंस के शेड्यूल 3 में संशोधन के मुताबिक, 'भारत में रह रहे लॉन्ग टर्म वीजा रखने वाले बांग्लादेश या पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समुदाय (हिंदू, बौद्ध, जैन, पारसी तथा ईसाई) के लोगों को केवल एक एनआरओ अकाउंट खोलने की मंजूरी दी गई है। जब ये लोग नागरिकता अधिनियम, 1955 के प्रवाधानों के तहत भारत के नागरिक हो जाएंगे तो उनके एनआरओ खाते को रेजिडेंट खाते में बदल दिया जाएगा।'


खरीद सकते हैं एक संपत्ति
फेमा के नियमों के मुताबिक, 'बांग्लादेश, पाकिस्तान या अफगानिस्तान के अल्पसंख्यक समुदाय के लोग, जिन्हें भारत में लॉन्ग टर्म वीजा दिया गया है, वे भारत में केवल एक अचल रिहायशी संपत्ति खरीद सकते हैं।'


'विचित्र है नियम'
वित्त मंत्रालय के सूत्र ने बताया कि यह बदलाव पिछले साल किया गया था, जब कई वित्तीय जानकारों, नौकरशाहों तथा राजनीतिज्ञों का ध्यान वित्तीय संकट की तरफ था। उन्होंने कहा, 'किसी ने उम्मीद नहीं की थी कि बैंकिंग से जुड़े नियमों में धार्मिक भेदभाव के नियम लाए जाएंगे।'


हिंसा-प्रदर्शन में मरने वालों की संख्या बडी

नई दिल्ली। संसद से जैसे ही नागरिकता संशोधन बिल पास हुआ, वैसे ही देश के कई हिस्सों में इसका विरोध शुरू हो गया। नए नागरिकता कानून के खिलाफ सबसे पहले नॉर्थ ईस्ट से विरोध की आवाज उठी, जो धीरे-धीरे देश के अलग-अलग हिस्सों तक पहुंच गई। असम, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात जैसे तमाम राज्यों में विरोध प्रदर्शन का हिंसक रूप दिखा। कुछ जगहों पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन के इतर तमाम जगहों पर मारपीट, आगजनी और पत्थरबाजी हुई। उत्तर प्रदेश में तो हिंसक विरोध प्रदर्शन के कारण छह लोगों की जान भी चली गई। एहतियातन दिल्ली के कुछ इलाकों सहित गाजियाबाद और दूसरी कई जगहों पर प्रशासन ने इंटरनेट सेवा बंद कर दी है। प्रदर्शन अब भी जारी है, इससे जुड़ी सभी अपडेट्स के लिए हमारे साथ जुड़े रहिए।


अजय के लिए कॉमेडी बेहद मुश्किलःकाजोल

कॉमेडी करना अजय के लिये बेहद मुश्किल: काजोल
    


मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री काजोल का कहना है कि उनके पति और अभिनेता अजय देवगन के लिये कॉमेडी करना बेहद मुश्किल काम है। अजय और काजोल जल्द ही फिल्म तानाजी में साथ नजर आएंगे। काजोल ने अजय की सुपरहिट कॉमेडी सीरीज गोलमाल पर भी बातचीत की। काजोल ने इस सीरीज में अजय की कॉमेडी पर कहा, ये उनके लिए बहुत, बहुत, बहुत, बहुत, बहुत मुश्किल काम है बल्कि जब मैंने गोलमाल का पहला पार्ट पहली बार देखा तो मैं हैरान थी।
काजोल ने कहा कि मैं हैरान थी कि वह ये करने में भी कामयाब रहा है और ये वो चीज है जिसके बारे में मैं कह सकती हूं कि वो करना जो आपके स्वभाव का हिस्सा बिलकुल भी नहीं है। काजोल ने कहा, मुझे लगता है कि यदि कोई कलाकार वो कर पाए जो उसके स्वभाव का हिस्सा बिलकुल भी नहीं है तो मैं मानती हूं कि उसने कुछ हासिल किया है।


श्रद्धा की खूबसूरत तस्वीरों पर फैंस फिदा

श्रद्धा कपूर ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें, फैंस ने लुटाया प्यार
    


मुंबई। बॉलिवुड ऐक्ट्रेस श्रद्धा कपूर हाल ही में अपनी अपकमिंग फिल्म बागी 3 की शूटिंग करके सर्बिया से वापस लौटी हैं। उनके साथ फिल्म के को-स्टार टाइगर श्रॉफ भी वापस लौटे हैं। इसके बाद उसी दिन ऐक्ट्रेस अपनी दूसरी फिल्म स्ट्रीट डांसर 3डी के प्रमोशन में लग गईं। इस फिल्म में को-स्टार वरुण धवन और डायरेक्टर रेमो डिसूजा के साथ प्रमोशन करने के लिए वह डांस रिऐलिटी शो में पहुंची। 
श्रद्धा कपूर ने अपनी फिल्म स्ट्रीट डांसर 3डी के प्रमोशन के दौरान शिमरी सिल्वर स्ट्रैपलेस ड्रेस पहन रखी थी। इसके साथ ही उन्होंने ब्लैक शूज पहने थे। वह बेहद खूबसूरत लग रही थीं। उन्होंने इसकी तस्वीरें अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर शेयर की हैं। इसके बाद तो उनके फैंस के कॉमेंट की बाढ़ आ गई। फैंस ने अपनी पसंदीदा ऐक्ट्रेस के ऊपर प्यार लुटाना शुरू कर दिया।
वर्कफ्रंट की बात करें तो श्रद्धा कपूर रेमो डिसूजा के डायरेक्शन में बनी फिल्म स्ट्रीट डांसर 3डी में अपारशक्ति खुराना, नोरा फतेही और शक्ति मोहन के साथ नजर आएंगी। यह फिल्म 24 जनवरी, 2020 को रिलीज होगी। वहीं, डायरेक्टर अहमद खान की फिल्म बागी 3 में काम कर रही हैं। यह फिल्म 6 मार्च, 2020 को रिलीज होगी।


कोहरे ने रोकी यातायात की रफ्तार

नई दिल्ली। कोहरे की वजह से दिल्ली एयरपोर्ट से आधी रात तक 46 फ्लाइट्स डायवर्ट की गई। दिल्ली, नोएडा, गुरुग्राम, फरीदाबाद समेत कई इलाकों में शनिवार सुबह घना कोहरा छाया हुआ है। मौसम विभाग के मुताबिक सिर्फ दिल्ली-एनसीआर ही नहीं बल्कि राजस्थान, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा समेत कई इलाकों में घना कोहरा छाया हुआ है। कोहरे की वजह से सड़कों पर विजिबिलिटी कम है, ऐसे में गाड़ियों की रफ्तार भी धीमी है। मौसम विभाग के अनुसार शनिवार को भी मौसम ठंडा ही बना रहेगा और कोहरा छाया रहेगा। आने वाले हफ्ते में तापमान में और गिरावट आने के साथ ठंड का प्रकोप और बढ़ने के आसार हैं। 


रिपोट्स के मुताबिक कई ट्रेनें अपने निर्धारित समय से देरी से चल रही हैं तो वहीं कई उड़ानों पर भी असर है। कोहरे की वजह से दिल्ली एयरपोर्ट से आधी रात तक 46 फ्लाइट्स डायवर्ट की गई। कंपकंपा देने वाली सर्दी का सितम शनिवार को भी जारी है, लोग ठंड से बचने के उपाय ढूंढते नजर आ रहे हैं। कोहरे की वजह से जनजीवन पर असर पड़ा है। सुबह के समय विजिबिलिटी कम होने से वाहन चालकों को लाइट जलानी पड़ी और वाहनों की रफ्तार धीमी रही। पहाड़ों पर लगातार बर्फबारी के चलते कई दिनों से कोहरा, गलन और शीतलहर का असर उत्तर भारत के मैदानी हिस्सों में दिखाई दे रहा है। दिन निकलने की शुरुआत कोहरे के साथ शीतलहर से हुई। शुक्रवार को भी पूरे दिन ठंड और शीतलहर चलने से भी राहत नहीं मिल सकी। कोहरे के चलते वाहनों की रफ्तार कम रही। ठंड से बचने के लिए लोग जगह-जगह अलाव जला रहे है। चाय की दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ रही।


यूपी हिंसा-प्रदर्शन में 9 लोगों की मौत

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हो रहे उग्र प्रदर्शन के चलते उत्तर प्रदेश के कई जिलों में अब तक 9 लोगों की जान जा चुकी है। शुक्रवार को दिनभर यूपी के गोरखपुर, अलीगढ़, संभल, बिजनौर, शामली, सहारनपुर सहित कई जिलों में प्रदर्शन हुए। यूपी में आज शनिवार को सभी शैक्षणिक संस्थाओं को बंद रखा गया है। भारी उपद्रव के चलते 22 दिसंबर को होने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) स्थगित कर दी गईं हैं। रिपोट्स के मुताबिक शुक्रवार को दिल्ली में जामा मस्जिद में जुमे की नमाज के बाद हजारों प्रदर्शनकारी जंतर मंतर की ओर बढ़े, लेकिन उन्हें दिल्ली गेट पर ही रोक दिया गया। मेरठ में हुए हिंसक प्रदर्शन को काबू करने के लिए पुलिस को गोली चलानी पड़ी। कानपुर में हुई फायरिंग में 13 लोग घायल हो गए। बवाल के चलते 22 दिसंबर को होने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा रद्द कर दी गई है। यूपी के सभी शिक्षण संस्थान शनिवार को बंद कर दिए गए हैं। बिगड़ते हालात को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शांति की अपील की है, वहीं राजनीतिक दलों पर इस आग को भड़काने का आरोप भी लगाया है। पश्चिम उत्तर प्रदेश में हिंसा की सबसे ज्यादा घटनाएं हुई हैं। उत्तर प्रदेश में ज्यादातर जगहों पर पत्थरबाजी, आगजनी की घटनाएं सामने आई हैं। यूपी में अब तक हिंसक प्रदर्शन के दौरान 9 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है, जिसमें फिरोजाबाद, बिजनौर और कानपुर में  दो-दो मौत जबकि मेरठ और संभल में एक-एक प्रदर्शनकारी की मौत हुई है। कानपुर में 13 प्रदर्शकारी और 18 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। फिरोजाबाद में 20 प्रदर्शनकारी और तकरीबन 70 पुलिसवाले घायल बताए जा रहे हैं। मेरठ में 12 प्रदर्शनकारी और 6 पुलिसवाले घायल हुए हैं तो वहीं बिजनौर में तीन प्रदर्शनकारी और 8 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। उत्तर प्रदेश के कई शहरों में हिंसक प्रदर्शन के बाद राज्य में हाई अलर्ट है।


प्रदेश के 151 नगर-निकाय में मतदान


  1. रायपुर। प्रदेश में आज नगरीय निकाय चुनाव का बिगुल बज रहा है। 151 नगरीय निकायों के लिए सुबह 8 बजे से मतदान की शुरुआत होगी। आज 2840 वार्डों के लिए वोट डाले जाएंगे। इसके अंतर्गत 10 नगर पालिक निगम, 38 नगर पालिका परिषद और 103 नगर पंचायतों का भविष्य तय होगा। नगर निगम के लिए 24,33,445 मतदाता, नगर पालिका के लिए 8,15,364 मतदाता और 7,33,792 मतदाता नगर पंचायत के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


दिसंबर 22, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-138 (साल-01)
2. रविवार, दिसंबर 22, 2019
3. शक-1941, मार्गशीर्ष- कृष्ण पक्ष, तिथि- दसमी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 07:13,सूर्यास्त 05:35
5. न्‍यूनतम तापमान -6 डी.सै.,अधिकतम-16+ डी.सै., शीत लहर के साथ बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...