रविवार, 14 जुलाई 2019

ग्रहण का राशि के अनुसार होगा लाभ- अहित

गुरु पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण, राशि के अनुसार इस तरह लें लाभ


नई दिल्ली ! 16 जुलाई मंगलवार को हो रहे चंद्रग्रहण के लिए वि‌भिन्न राशि के लोगों के लाभ के लिए कई उपाय बताए हैं। नैय्यर का कहना है कि लगातार दूसरे साल गुरु पूर्णिमा पर चंद्रग्रहण हो रहा है। पिछले साल 27 जुलाई को 3 घंटे 51 मिनट के लिए यह ग्रहण लगा था। इस बार इसकी अवधि 2 घंटे 59 मिनट है। यह पूरे भारत में रात्रि 1 बज कर 31 मिनट से दिखेगा। समापन 4 बज कर 30 मिनट पर होगा। गुरु पूर्णिमा और चंद्र्ग्रहण एक साथ होने की वजह से गुरु पूजा भी सूतक लगने से पहले कर लेना उचित है। सूतक दिन में 4 बज कर 31 मिनट पर शुरू हो जाएगा।


इस तरह लें लाभ
नैय्यर ने कहा ग्रहण पर राशि के अनुसार, इस तरह लें विशेष लाभ…
मेष राशि वालों को ग्रहण के बाद गुड़ और दाल का वितरण करना चाहिए।
वृषभ राशि के जातकों को मंदिर में दही, चीनी दान करनी चाहिए।
मिथुन राशि वाले गाय को पालक खिलाएं और कर्क राशि वाले शिवलिंग पर दूध चढ़ाएं।
सिंह राशि के जातक तांबे की कोई वस्तु या केसरिया वस्त्र मंदिर में दें, या अपने पिता को दें।
कन्या राशि वाले हरी चूड़ियां किसी कन्या या किन्नर को दें।
तुला राशि वालों को जोत अगरबत्ती मंदिर में दान करनी चहिए।
वृश्चिक राशि वालों को हनुमानजी के मंदिर में घी दान करना चाहिए।
धनु राशि वाले जातक चने की दाल मंदिर में पंडित जी को दें, तो बेहतर है।
मकर राशि वाले काले तिल का दान किसी गरीब को कर सकते हैं।
कुंभ राशि वाले कहीं जल में कोयला चढ़ाएं।
मीन राशि वाले गरीब बच्चों को केले खिलाएं।


गोपी चंद सैनी


जनता के राशन पर खूब हो रहा है खेलकूद

संवाददाता-विवेक चौबे


गढ़वा ! जिले के कांडी प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत घटहुआं कला पंचायत के ग्राम-राजा घटहुआ में स्थित सामुदायिक भवन पर रविवार को काफी संख्या में लाभुक गोलबंद हुए।लाभुकों ने आरोप लगाते हुए कहा कि उपमुखिया-अजीज अंसारी ने दिसंबर महीने का राशन डीलर-श्याम कुमार के द्वारा खेलकूद के नाम पर बेचवा दिया था।जबकि जनवरी महीने का राशन डीलर ने खुद ही राशन बेच दिया।बता दें कि अंगूठा लगाए बिना डीलर ने राशन बेच दिया यह भी सोचनीय तथ्य ही है।लाभुकों द्वारा डीलर से पूछने पर डीलर ने बताया कि राशन मुझे एक महीने का हीं मिला है। यह कह कर अंगूठा लगवा लिया गया।पुनः मार्च महीने में राशन ब्लैक कर दिया गया।अप्रैल महीने का भी राशन नहीं मिला। वहीं जून व जुलाई दोनों महीने का राशन व केरोसिन तेल वितरण नहीं किया गया।अब तक कोई कार्रवाई भी नहीं की गयी।शुक्रवार को लाभुक प्रखंड परिसर में बिडिओ-गुलाम समदानी के पास पहुंचे।गुलाम समदानी ने लाभुकों से कहा कि शनिवार को जून व जुलाई दो महीने का राशन आपके गांव के सामुदायिक भवन पर वितरण किया जाएगा।गोदाम मैनेजर-नरेंद्र सिंह ने लाभुकों को बताया कि शनिवार को एक महीने का ही राशन मिलेगा।इस पर जनता की सहमति नहीं बनी।पुनः शनिवार को प्रखण्ड परिसर पर लाभुक पहुँच गोलबंद हुए थे।उप मुखिया-अजीज अंसारी से लाभुकों ने जब कहा कि आप व डीलर दोनों मिलकर हम सब लाभुकों का राशन बेचवा दे रहे हैं।इस पर उपमुखिया ने लाभुकों के साथ अभद्र व्यवहार व बुरी-बुरी गालियां देते हुए कहा कि कौन कह रहा है हमको कि हम राशन बेचवाए हैं।


राशन तो डीलर ने बेचा है। लाभुक ने कहा कि मुखिया आप हैं तो राशन आप नहीं दिलवाए! इसका मतलब साफ है कि डीलर से आप ही मिल कर राशन बेचवा दिए। उप मुखिया ने कहा कि तुम लोग मुझे वोट नहीं दिए हो।तुम लोगों का मुखिया मैं नहीं हूं।लाभुक महिलाओं ने कहा कि मुखिया हमारा कौन है,आप बताइए। उप मुखिया अजीज अंसारी ने महिलाओं को कहा कि जहां से निकली हो वही घुसा देंगे।बता दें कि इस प्रकार मुखिया की अभद्रता से साफ झलक रहा है कि पंचायत वासियों से उप मुखिया किस प्रकार से पेश आते होंगे।लाभूक- चिंता देवी पति- उदय राम ने कहा कि मुखिया जी महिलाएं तो पैदा करने के लिए होती है।भितराने के लिए नहीं।इस प्रकार आपका बोलना बिल्कुल गलत है।काफी संख्या में लाभुक महिलाओं ने मुखिया के द्वारा अपशब्द बोले जाने पर छोटा बाबू रविंसन् मुंडारी को आवेदन सौंपा गया। छोटा बाबू ने आवेदन के बाद शीघ्र ही उप मुखिया-अजीज अंसारी को बुलाया। पूछा गया कि आप गाली-गलौज क्यों किए तो उन्होंने कहा कि मैं डीलर को गाली दिया हूं।जबकि डीलर वहां नहीं थे, जिस समय मुखिया ने गाली दी थी।थाना पर समझौता कर दिया गया।लाभुकों ने बिडिओ को आवेदन देते हुए बताया की दो महीने के राशन प्राप्त करने के बाद हम लोग घटहुआं कला निवासी डीलर-कृष्णा प्रसाद साह के पास राशन व केरोसिन तेल लेंगे।बिडिओ-गुलाम समदानी ने लाभुकों को आश्वाशन देते हुए कहा की राशन वितरण करने के बाद आप लोग जहाँ चाहेंगे,वहां राशन स्थानातरण कर दिया जाएगा।उक्त सभी बातें वार्ड सदस्य अरुण कुमार राम सहित सभी लाभुकों ने कहा।डीलर-श्याम कुमार राम लाइसेंस नंबर 6290 ने जानकारी देते हुए बताया कि दिसंबर महीने में अजीज अंसारी ने गरदाहा हाई स्कूल के खेल के मैदान में फुटबॉल मैच खेलाने के नाम पर एक महीने का राशन बेचवा दिया था।वही जून व जुलाई दो महीने का राशन बकाया है। साथ ही डिलर-श्याम कुमार ने कहा कि मुखिया ने लाभुकों को बरगला कर उन लोगों से कहा कि आपका डिलर सस्पेंड हो गया है। लाभुकों को कभी उस डीलर तो कभी अन्य डीलर के पास दौड़ाया भी गया। काफी कठिनाई हुई। वहीं डीलर-श्याम कुमार ने कहा कि मुखिया मुझे हर समय डराते धमकाते हैं कि मैं मुखिया हूं तेरा लाइसेंस जब चाहूंगा रद्द कर दूंगा।साथ ही उपस्थित महिलाओं ने उपमुखिया-अजीज अंसारी पर आवास में रिश्वत लेने का भी आरोप लगाया।जबकि पंचायती राज में मुखिया पंचायत का मुख्य व प्रधान होता है।गरीबों को मदद करने के बजाए उनसे रिश्वत लेना काफी शर्मनाक बात है।महिलाओं के द्वारा रिश्वत दिए जाने के बाद भी आवास नहीं मिल सका।अब सवाल यह खड़ा हो जाता है की पंचायत की मुखिया शहीना बीबी व उनके पति उपमुखिया-अजीज अंसारी हैं।धौंस जमाना तो स्वाभाविक है ही।किन्तु पंचायत में विकास करने के बजाए तो महिलाओं को अब गालियां भी दी जाने लगी हैं।राशन के सम्बन्ध में बिडिओ-गुलाम समदानी ने सभी लाभुकों को आश्वाशन देते हुए कहा की मामला जाँच का विषय है।जाँच के बाद दोषी पाए जाने के पश्चात डीलर के खिलाफ सख्त क़ानूनी कार्रवाई की जाएगी।


मंडोला विहार योजना, हाईवे पर धरना

 गाजियाबाद ! मंडोला विहार योजना से प्रभावित किसानो ने प्रशासनिक अधिकारियो से किये गए वायदे के अनुसार पिछले 6 महीने से आवास विकास परिषद कार्यालय परिसर में चल रहा धरना स्थानांतरण करके दिल्ली सहारनपुर रोड के किनारे पर अपना तम्बू जमा दिया है ।
आज सुबह करीब 8 बजे जैसे ही धरनारत किसान आवास विकास परिषद कार्यालय से बाहर दिल्ली सहारनपुर रोड के किनारे पर अपने बैठने की व्यवस्था करने लगे तो भारी पुलिस बल मौके पर पहुँच गया भारी पुलिस बल आने का कारण पूछा गया तो ज्ञात हुआ कि धरनारत किसानो द्वारा दिल्ली सहारनपुर रोड जाम करने की सुचना के मद्देनजर भारी पुलिस बल लगाया गया है थाना अध्यक्ष ट्रोनिका सिटी ने भी फोन पर इस बात की पुष्टि करने के लिए किसान नेताओ से बात की किसान नेता मनवीर तेवतिया ने अधिकारियो को आश्वस्त करते हुए कहा कि हम प्रशासनिक अधिकारी ADM प्रशासन जितेंद्र कुमार शर्मा से किये गए वायदे के अनुपालन में अपना धरना स्थल आवास विकास कार्यालय परिसर से बाहर लेकर आये हैं और रोड को अवरुद्ध किये बिना ही अपने बैठने की व्यवस्था कर रहे हैं ।
शुक्रवार के दिन किसान नेता मनवीर तेवतिया के नेतृत्व में किसानो का एक प्रतिनिधि मंडल अपर जिला अधिकारी ( प्रशासन ) जितेंद्र कुमार शर्मा से मिला था और शासन प्रशासन द्वारा धरनारत किसानो की वार्ताओं का दौर रोककर, नजर अंदाज करने पर ,नाराजगी जताई थी!


जिस पर प्रशासनिक अधिकारियो ने किसानो को आश्वासन दिया कि जल्द ही वार्ताओं का दौर सुरु कराया जायेगा क्योकि किसी भी समस्या का हल वार्ता की टेबल पर ही सम्भव है अपर जिला अधिकारी ने यह भी आश्वासन किसानो को दिया कि शासन स्तर पर जो वार्ता आवास एव शहरी नियोजन मंत्री की अध्यक्ष्ता में हुई थी उस वार्ता के विवरण से ही वार्ताओं का दौर प्रारम्भ कराया जायेगा ।
अपर जिला अधिकारी ने किसान प्रतिनिधियों से भी एक निवेदन किया उन्होंने कहा कि आप आवास विकास परिषद के कार्यालय परिसर से बाहर अपना धरना कर लें ।
किसान प्रतिनिधियों ने बगैर समय गवाए हुए धरना स्थानातरण करने की बात मान ली जिसके अनुपालन में आज किसानो ने अपना धरना स्थल दिल्ली सहारनपुर रोड के किनारे पर बना लिया ।आज धरने पर सैकडो महिला व् पुरुष उपस्थित रहे ।


नाबालिग से रेप ,एक गिरफ्तार एक फरार

 


रायबरेली ! थाना महराजगंज क्षेत्र स्थित खैराना गांव में नाबालिक लड़की के साथ गैंगरेप व उसे बेचने के मामले में एक अभियुक्त को गिरफ्तार करने को लेकर कोतवाली प्रभारी लाल चंद्र सरोज आजकल सुर्खियां बटोर रहे हैं ! तो, वहीं नाबालिक लड़की के बयान पर दूसरा अभियुक्त पुलिस की पकड़ से कोसों दूर है। पहले अभियुक्त को पकड़ने के लिए कोतवाली प्रभारी ने जितनी सक्रियता दिखाई है क्या? दूसरे अभियुक्त को भी पकड़ने में कोतवाली प्रभारी इतनी ही सक्रियता अपनाएंगे ?
क्योंकि, खैराना ग्राम प्रधान व चंद्र चाटुकार दलाल लगातार कोतवाली जा जा कर कोतवाली प्रभारी पर दूसरे अभियुक्त को बचाने के लिए दबाव बना रहे हैं।
जिसको कोतवाली प्रभारी ने अपने कार्यालय के अंदर से ही बेइज्जत करके भगा दिया और खरी-खोटी भी सुनाई।
दूसरे अभियुक्त को बचाने के लिए आज सुबह से ही कुछ चाटुकार टाइप के दलाल कोतवाली में 2:00 बजे तक बैठा रहा अंततः काम ना होने पर पुन: उसे वापस जाना पड़ा।
अब देखने वाली बात यह होगी कि, पहले अभियुक्त को कोतवाली प्रभारी ने जितनी तन्मयता व तत्परता से गिरफ्तार करके जेल भेजा है उतनी ही तत्परता से दूसरे अभियुक्त को भी गिरफ्तार कर जेल भेजने का काम करेंगे या चंद्र चाटुकार दलालों से सुविधा शुल्क लेकर उसकी नामजदगी से हटा देगें। यह बात समय के गर्भ में है और संपूर्ण क्षेत्र में चर्चा का विषय है।


शिवाकांत अवस्थी 


चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग पर उपस्थित रहेंगे राष्ट्रपति


प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सलाह पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद मौजूद रहेंगे चन्द्रयान-2 की लॉचिंग के समय।

नई दिल्ली ! 15 जुलाई को तड़के 2 बजकर 51 मिनट पर जब श्रीहरिकोटा से चन्द्रयान-2 की लॉचिंग होगी तब वैज्ञानिकों के साथ देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी उपस्थित रहेंगे। राष्ट्रपति उन वैज्ञानिकों की हौंसला अफजाई करेंगे जो चन्द्रयान को चन्द्रमा पर उतार रहे हैं। संभवत: यह पहला अवसर होगा जब मध्य रात्रि के बाद कोई यान की लॉचिंग की जा रही है और उस समय देश के राष्ट्रपति मौजूद हैं। चन्द्रमा की सतह पर पहुंचने वाला भारत चौथा देश होगा। ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर चन्द्रयान-2 की लॉचिंग बहुत महत्व रखती है। सूत्रों की माने तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सलाह पर ही राष्ट्रपति समारोह में मौजूद रहेंगे। ऐतिहासिक क्षणों में उपस्थिति दर्ज करवाने के लिए राष्ट्रपति कोविंद 13 जुलाई को ही मद्रास पहुंच गए हैं। 14 जुलाई को राष्ट्रपति ने तिरुपति के मंदिर में पूजा अर्चना भी की। इसमें कोई दो राय नहीं कि गत पांच वर्षों में अंतरक्षि के क्षेत्र में भारत ने अनेक उपलब्धियां हासिल की है। अब जब चन्द्रमा की सतह पर पहुंचने का प्रयास किया जा रहा है तो यह उपलब्धि अपने आप में बहुत मायने रखती है। हालांकि इसका श्रेय भारतीय वैज्ञानिकों को है, लेकिन इसके पीछे सरकार की इच्छा शक्ति भी है। वैज्ञानिक तभी अपना काम प्रभावी ढंग से कर सकते है, जब सरकार का सहयोग मिले। सरकार के सहयोग की बदौलत ही वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में एंटी मिसाइल का सफल परीक्षण भी कर लिया है। यानि अंतरिक्ष में हमारे जो उपग्रह हैं उन्हें अब कोई देश नुकसान नहीं पहुंचा सकता है।


चन्द्रयान-2 का महत्व इसलिए भी है कि इसे चन्द्रमा के साउथ पोल पर उतारा जाएगा। अब तक अमरीका, चीन और रूस ने चन्द्रमा पर जो यान उतारे हैं वे साउथ पोल से दूर हैं। माना जा रहा है कि साउथ पोल पर ही पानी मिलने की संभावना है। यदि चन्द्रमा पर पानी मिलता है तो फिर रिहायशी की संभावना भी तलाशी जाएगी। चन्द्रयान-2 को लेकर पूरे देश में उत्साह बना हुआ है। चैनलों पर रात के समय लाइव प्रसारण किया जाएगा। टीवी चैनलों ने लाइव प्रसारण के विशेष इंतजाम किए हैं।
एस.पी.मित्तल


अब्दुल गनी की हत्या का जिम्मेदार कौन


राजस्थान पुलिस के हैड कांस्टेबल अब्दुल गनी की हत्या का जिम्मेदार कौन?
शव के दफन को लेकर विवाद की स्थिति।
सरकार का दावा, भीड़ ने नहीं मारा।

 राजसमंद ! जिले के भीम थाना क्षेत्र के एक भूमि विवाद के प्रकरण की जांच करने मौके पर गए हैडकांस्टेबल अब्दुल गनी को कुछ लोगों ने पीट पीट कर मौत के घाट उतार दिया। गनी की हत्या तब की गई, जब वे मौके पर रिपोर्ट बना कर लौट रहे थे। हालांकि गनी को सरिए आदि से मारने वालों में कोई आधा दर्जन लोग शामिल थे, लेकिन अब पुलिस के आला अधिकारियों और सरकार में बैठे लोगों का कहना है कि अब्दुल गनी को भीड़ ने नहीं मारा है। सरकार इसे सामान्य अपराध की घटना मान रही है। अब्दुल गनी की जिस तरह हत्या हुई उस पर जहाजपुर की मुस्लिम पंचायत के अध्यक्ष नजीर मोहम्मद ने नाराजगी जताई। नजीर ने सरकार से मांग की है कि मृतक के परिजन को पचास लाख रुपए का मुआवजा, परिवार के दो सदस्यों को नौकरी, भीलवाड़ा में आवास तथा बालिग होने तक बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा देने की घोषणा की जाए। साथी ही अब्दुल गनी को शहीद होने का दर्जा भी दिया जाए। नजीर और परिजन ने साफ कहा कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाती तब तक शव का दफन नहीं होगा। परिजन की इस घोषणा के बाद भीलवाड़ा का पुलिस और जिला प्रशासन समझाइश में जुट गया है।
14 जुलाई को पुलिस के आला अधिकारी भीलवाड़ा पुलिस लाइन तक तो सम्मान के साथ शव को लाए लेकिन शव को अब्दुल गनी के घर पहुंचाने के बाद किसी ने भी हालात की सुध नहीं ली। सवाल उठता है कि जब इतनी नाजुक स्थिति बनी हुई थी तो फिर सरकार और प्रशासन के प्रतिनिधि कहां चले गए। जाहिर है कि सरकार इस पूरे मामले को गंभीरता के साथ नहीं ले रही है। परिजन की मांग न्यूज चैनलों पर भी प्रसारित होती रही, लेकिन सरकार के किसी भी मंत्री ने गंभीरता नहीं दिखाई। डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने ट्वीटर पर खेद प्रकट कर अपनी जिम्मेदारी पूरी कर दी। सवाल उठता है कि क्या अपराधियों में पुलिस का भय खत्म हो गया है? जो अब्दुल गनी ड्यूटी पर था उसे यदि इस तरह मार डाला जाएगा तो फिर राजस्थान में कानून व्यवस्था की स्थिति का अंदाजा लगाया जा सकता है। पिछले दिनों झारखंड में रहमत नाम के एक युवक को भी पीट पीट कर मार डाला गया। इस घटना के विरोध में देशभर में प्रदर्शन और मौन जुलूस निकाले गए। राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार है और गहलोत भी भीड़तंत्र की निंदा कर चुके हैं। गहलोत ने भी झारखंड की घटना की निंदा की थी, लेकिन जब राजस्थान में 13 जुलाई को हैडकांस्टेबल अब्दुल गनी की हत्या की गई तो सरकार का कहना है कि यह भीड़तंत्र वाला मामला नहीं है। यानि झारखंड और राजस्थान में हुई घटनाओं के मायने अलग अलग हैं। बताया जा रहा है कि अब्दुल गनी की हत्या के सात आरोपियों को चिन्हित कर लिया गया है और जल्द ही गिरफ्तारी होगी। पुलिस के अनुसर कमला देवी ने भीम पुलिस स्टेशन पर नैनादेवी सहित दस लोगों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। इस रिपोर्ट में नैनादेवी के पक्ष वालों पर जमीन पर कब्जा करने का आरोप लगाया। पुलिस का कहना है कि जमीन के इसी मामले में अब्दुल गनी की हत्या की गई।
एस.पी.मित्तल


आदिवासियों के साथ पशु जैसा व्यवहार

आदिवासियो के साथ प्रशासन का छलावा


प्रशासन का आदिवासियो के साथ पशुओ जैसा व्यवहार


छिंदवाड़ा -परासिया ! आजादी के 71 साल बाद भी आदिवासियो को प्रशासन ,सामानता का अधिकार दिलाने मे विफल रही है।जिससे कि उन्हे जो मौलिक अधिकार प्राप्त है ।अधिकारी-कर्मचारी द्बारा उनका भी हनन किया जा रहा है।जिसके चलते आज भी आदिवासियो का जीवन पशुओ के समान बीत रहा है। ये हम नही हालात बया कर रहे है।
जहां छिन्दवाडा़ जिले और मुख्यमंत्री के ग्रह जिले छिन्दवाडा़ के तामिया मे भरिया जनजाति समाज के विकास ,शिक्षा ,जाग्रुकता ,और अन्य योजनाओ के लिए सरकार द्बारा करोड़ो रूपये आये,लेकिन फिर भी किसी प्रकार की योजना का लाभ भरिया समाज को अभी तक नही मिल पाया है।यदि ,तामिया की ग्राम पंचायत गोरिया-पानी के अतर्गत आने बाले ग्राम राधना और जाम-ढाना की बात करे तो आजादी के बाद से आज तक यहां कोई विकास -कार्य नही किये गये है। न तो गांव मे पहुचने के लिए सड़क बनायी गई है और न ही आवास योजना के तहत किसी को लाभ दिया गया है। हैरान करने वाली बात यह है कि आज तक सचिव-सरपंच द्बारा कोई भी सड़क निर्माण कार्य या कोई अन्य कार्य नही करवाया गया है जिसके कारण आज भी ग्रामीणजन पांच किलोमीटर पहाडी़ पर चढकर सोसायटी मे अनाज लेने जाने के लिए मजबूर है।
वही सोसायटी संचालक द्बारा मनमानी करते हुए मिट्टी का तेल दुकान के अंदर ही वितरित किया जा रहा है जिसके कारण ग्रामीणो को हमेशा घटना का अनदेशा बना रहता है ।जबकी ब्लाक हर्रई के ग्राम बारगी मे सोसायटी संचालक की लापरवाही के कारण मिट्टी के तेल वितरण के दौरान कई ग्रामवासियो बड़ी घटना के कारण जान गवाना पड़ा था ।
फिर भी सोसायटी संचालक आज भी मनमानी करने से वाज नही आ रहे है।वही आलाधिकारीयो द्बारा इस ओर कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।


 दिनेश साहू परासिया


आगरा में खुलेगा अंतरराष्ट्रीय आलू शोध केंद्र

किसानों के लिए खुशखबर, आगरा में खुलेगा अंतरराष्ट्रीय आलू शोध केंद्र, जानिए क्या होगा किसानों को फायदा


आगरा ! आलू किसानों और शीतगृह संचालकों की बर्षो पुरानी मांग पूरी होने वाली है। उत्तर प्रदेश सरकार ताजनगरी में अमेरिका के अंतरराष्ट्रीय आलू शोध केंद्र की शाखा खोलने की कवायद में लगी है। अगर सब कुछ ठीकठाक रहता है तो जल्द ही इस पर काम शुरू हो सकता है।
इस शोध केंद्र के खुलने के बाद आलू पर कई शोध होंगे, जिनका फायदा यहां 75 हजार हेक्टेयर में आलू की पैदावार करने वाले किसानों को मिल सकेगा। फतेहाबाद रोड स्थित केएनसीसी में शनिवार को आयोजित ऑल इंडिया कोल्ड चेन सेमिनार में उद्यान विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. आरके तोमर ने इस बारे में जानकारी दी देखने वाली बात होगी कब तक होगी किसानों की मुरादपूरी या किसानों को पहले की तरह सरकार लाॅलीपोप देती रहेगी ।


देवेन्द्र कुमार वघेल


होटल की बिल्डिंग गिरी,30 दबने की आशंका

हिमाचल के सोलन में होटल की बिल्डिंग गिरी, सेना के जवानों सहित 30 के दबे होने की आशंका


सोलन ! हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में एक होटल की इमारत गिरने की खबर है। इस बिल्डिंग के नीचे करीब 30 लोगों के दबे होने की आशंका है। बताया जा रहा है कि, दबे हुआ अधिकतर लोगों में सेना के जवान बताए जा रहे हैं। ये हादसा सोलन के कुमारहट्टी-नाहन हाइवे के किनारे बने सेहज ढाबा और गेस्टहाउस में हुआ। जब ये तीन मंजिला इमारत अचानक से भरभरा कर गिर पड़ी।


बताया जा रहा है कि बिल्डिंग के मलबे में दबे लोगों में भारतीय सेना के भी जवान शामिल हैं।एक प्रशासनिक अधिकारी ने बताया कि, अबताया जा रहा है करीब 18 लोगों को घायल अवस्‍था में मलबे से निकाल लिया गया है। उन्हें धर्मपुर के एक अस्पताल में भेजा गया है। प्रशासन का कहना है कि कुल 25 लोग घटना के वक्त मौजूद थे। हालांकि स्पष्ट तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि हादसे के वक्त इस भोजनालय में कितने लोग मौजूद थे। परवाणू और सोलन से सात एंबुलेंस को मौके के लिए रवाना कर दिया गया है। वहीं पंचकूल से एनडीआरएफ की एक टीम बुलाई गई है।


पुलिस व प्रशासन मौके पर पहुंच गए हैं। सोलन के एसडीएम रोहित राठौर मौके पर पहुंच गए हैं। उनकी मौजूदगी में बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है। इमारत के गिरने के कारण का पता नहीं चल सका है। बता दें कि हिमाचल में पिछले कई दिनों से बारिश हो रही है। जिसके चलते राज्य में कई जगहों पर भूस्खलन और घर गिरने की घटनाएं सामने आई हैं।


भाकियूअंबावत ने किया गौशालाओं का निरीक्षण

 बुलंदशहर ! दर्जनों गांव में हुए भारतीय किसान यूनियन अंबावता के कार्यक्रम व सैकड़ों किसानों ने संगठन की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण की! भारतीय किसान यूनियन अम्बाबत की मीटिंग क्योली कला खुर्जा ग्राम बैरी ग्राम भटोला ग्राम अचरु ग्राम हल पुरा फरीदपुर हवेली आदि दर्जनों गांव मे आयोजित की गयी। 


जिसकी अध्यक्षता राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण शर्मा (नीटू) ने की । जिसका संचालन ठा. मुकेश सोलंकी ने किया!
इस अवसर पर ग्राम वासियों ने भारतीय किसान यूनियन अंबावता के (प्रदेश अध्यक्ष) पं. सचिन शर्मा जी का जोरदार स्वागत किया ।
गांव वासियों के अनेक किसानों ने संगठन की प्राथमिक सदस्यता ग्रहण कि और ग्राम के सभी पदाधिकारी मनोनीत किया और शुभकामनाएं दी
मीटिंग मैं अनेक किसानों ने अपनी अपनी समस्याओं क़ो पं.सचिन शर्मा के सामने रखी!


 विधानसभा शिकारपुर बुलंदशहर के जिला अध्यक्ष व फरीदपुर हवेली के ग्राम प्रधान के द्वारा बनाई जा रही गौशाला में आज प्रदेश अध्यक्ष सचिन शर्मा ने किया !निर्माणाधीन आधुनिक गौशाला का निरीक्षण, और कहां लक्ष्मी समान गौ माता गौ मां को लक्ष्मी का रूप मानते हैं! जिस घर से हर दिन गाय माता को रोटी दी जाती है ! उस घर में सदैव मां अन्नपूर्णा प्रसन्न रहती है!



भारतीय किसान यूनियन (अंबावता) ने ग्राम बैरी में वृक्षारोपण किया इस! अवसर पर कहा मेंपर्यावरण के संरक्षण का संकल्प ले।
एक बेहतर कल बनाने के लिये आज प्रकृति का संरक्षण करें।
एक पेड़
एक जिंदगी
. "सांसे हो रही कम
आओ वृक्ष लागये हम"


यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष सचिन शर्मा ने किसानों क़ो उनकी समस्या क़ो दूर करने क़ा आश्वसन दिया। और कहा किसानों पर हो रहे अत्याचार को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा अगर इन समस्याओं का समाधान नहीं हुआ तो जल्द ही जिला मुख्यालय बुलंदशहर पर किया जाएगा विशाल धरना प्रदर्शन


इस अवसर पर प्रमुख रूप से भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव प्रवीण शर्मा (नीटू ) बुलंदशहर जिला अध्यक्ष व फरीदपुर हवेली के ग्राम प्रधान रवि शर्मा उप जिला अध्यक्ष सुधीर झा पार्षद जीतपाल कश्यप गजेंद्र सिंह उर्फ पप्पू
रुद्रदेव देव शर्मा ग्राम प्रधान हलपुरा
प्रधान संगठन के अध्यक्ष ललित शर्मा ग्राम वैरी मुकेश प्रधान ग्राम भटोला अजब सिंह प्रधान वरीना सुशील प्रधान ग्राम अचरू किशन प्रधान खंडवायातहसील अध्यक्ष योगेश सिंह ब्लॉक अध्यक्ष इंद्रपाल सिंह ब्लॉक उपाध्यक्ष डॉक्टर सुरेंद्र ब्लॉक सचिव राजवीर जिला सचिव रामप्रकाश आयोजक तहसील सोनपाल विधानसभा उपाध्यक्ष ,नेम पाल सिंह ग्राम प्रभारी ,अली खान ग्राम सचिव आदि ग्रामवासी उपस्थित रहे!


कार गिरी खाई में, पांच लोगों की दर्दनाक मौत

 


कार खाई मे गिरने से हादसे में पांच लोगों की दर्दनाक मौत।



सहारनपुर ! चकराता घूमने जा रहे सहारनपुर के पर्यटकों की कार कालसी से पांच किमी आगे चामड़खील नामक जगह पर अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। हादसे में कार सवार सभी 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस के अनुसार, घटना देर रात की बताई जा रही है।


जिसका पता स्थानीय पुलिस-प्रशासन को रविवार सुबह चला। हादसे में मारे गए पांचों मृतक सहारनपुर के निवासी हैं।वीरेंद्र सिंह निवासी अमर दीप कालोनी, दीपक तोमर नानकपुरम ,गोरव त्यागी गोविंद नगर बाकी दो मृतकों की जनकारी की जा रही हैं।


पर्यावरण संरक्षण है जरूरी,नहीं मजबूरी

इसे न समझें अपनी मजबूरी,
पर्यावरण संरक्षण है अब जरूरी


कानपुर। आम जन मानस में पर्यावरण के प्रति लोगो को जागरूक करते हुए उनसे वृक्षों की रक्षा करने का निवेदन करने के महाभियान को सफल करते हुए पर्यावरण संरक्षण समिति एवं नागरिक सुरक्षा कोर प्रखंड रतनलाल नगर के सौजन्य से बर्रा 4 स्थित नीलकंठ महादेव सेवा पार्क में विभिन्न प्रकार के कुल 50 पेड़ लगाए गए। इस कार्य से उत्साहित होकर क्षेत्रीय नागरिकों ने भी इन वृक्षों की समुचित देखभाल का संकल्प लिया। समिति के अध्यक्ष जे पी दीक्षित ने सभी लोगो का आभार जताया।


सचिव अनूप दीक्षित ने बताया कि जब तक सारे पार्क को हरा भरा नही कर देंगे तब तक ये अभियान अनवरत जारी रहेगा। हमारे कर्मठशील सदस्य ऐसे स्थानों की सूची तैयार कर रहे हैं जहाँ पार्को में पेड़ो की नितांत आवश्यकता है।मीडिया प्रभारी कान्ति शरण निगम ने बताया कि समिति से कई समाजसेवी, व्यापारी, पत्रकार व केंद्र सरकार की सेवा से रिटायर्ड अधिकारी भी जुड़े हुए हैं जो कि रविवार को छुट्टी के दिन के चलते समाज में वृक्षारोपण अभियान को सफल करने में अपनी सेवा देते हैं, जो कि अत्यंत ही सराहनीय कार्य है। इस मौके पर समिति के वरिष्ठ सदस्य संजय गुप्ता, अमित शुक्ला, एस के द्विवेदी,के पी द्विवेदी, डॉ ए के शुक्ला, ओ एन बाजपेयी, आर एस उपाध्याय, संजय पोरवाल एवं नागरिक सुरक्षा कोर से तरूण नरूला, राम शरण सिंह, राजीव पांडे, अजय शुक्ला व कई कर्तव्यपरायण वार्डेन मौजूद थे।


उपेक्षा के चलते 20 -25 गोवंश की मृत्यु

नगर पालिका में गुटबंदी के कारण गौ आश्रय की उपेक्षा के चलते 20 - 25 गोवंश की मृत्यु


मीरजापुर। पालिका प्रशासन के प्रयासों पर किस प्रकार पानी फिर जाता है, इसकी एक बानगी टांडा फॉल के पास बने हुए मुख्यमंत्री की प्राथमिकता वाले नगर पालिका के अधीन बनाए गए गौशाला को देखने से पता चल गया, जहाँ पिछले कुछ दिनों में दर्जनों गायों की मृत्यु हुई है, जबकि उन गायों की देखभाल के लिए टांडा फॉल में प्रबंधक समेत 20 से ज्यादा कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है। वैसे भी पालिका में किसी से भी से काम लेना बहुत मुश्किल है। शासन-प्रशासन के आदेशों की अवहेलना, गुट बंदी का खुला खेल कई सालों से चलता आया है। दिन भर गपशप करते हुए ज्यादातर कर्मचारी मानो यह साबित करते हों कि सारी जिम्मेदारी ईओ और चेयरमैन की है!


उन कर्मचारियों की है ही नहीं। यातायात और पर्यावरण के लिए बाधा बने मार्गों और गलियों में अतिक्रमण, तालाबों का अतिक्रमण, साफ-सफाई, सरकारी जमीनों पर कब्जे के लेकर शासन-प्रशासन की चिंताओं से जब-तब पल्ला झाड़ लेना अधीनस्थ कर्मचारियों की प्रवृत्ति बन गई है। कार्य से संबंधित कर्मचारी ही बता देता है कि यह कार्य उसका नहीं है, वरन् उच्च अधिकारियों का है। फोन करके बात कर लीजिए। जहाँ सेटिंग-गेटिंग का मामला हो, वहाँ ऐसे कर्मचारी खामोशी से काम करते हैं। उम्मीद है कि पालिका प्रशासन टांडा फॉल की घटना के बाद सबक लेकर अपनी व्यवस्था को बेहतर करेगा।
वही एक पत्रकार वार्ता में विश्व हिंदू परिषद गोरक्षा प्रांत प्रमुख महेश तिवारी ने नगर पालिका प्रशासन को चेतावनी दी है कि नगर पालिका के कर्मचारी अमानवीय कृत्य करने से बाज आए और नगर पालिका द्वारा नियुक्त ठेकेदार जो चारा आपूर्ति करता है उसको तत्काल हटाया जाय ।एक रिकॉर्ड बुक बनाया जाए जिससे कितने गोवंश वहां पर आए और कितने की मृत्यु हुई उसका रिकॉर्ड दर्ज किया जाए। मृत गोवंश का डॉक्टर द्वारा पोस्टमार्टम कर पंचनामा करके सर्टिफाई किया जाए। गोवंशो के रहने के लिए समुचित व्यवस्था किया जाए अन्यथा वह नगर पालिका प्रशासन की ईट से ईट बजा देंगे। गोवंशों की बदहाल स्थिति और उनकी मृत्यु की घटना को लेकर मुख्यमंत्री के पास भी जाने की बात कही है।
समर चंद्र


विद्युत विभाग की मनमानी से जनता परेशान

श्रीकान्त शाक्य 


बिद्युत सब स्टेशन पर नही रूक रहा मनमानी का खेल


तीन साल में भी नही पहुंची घरनाजपुर नई बस्ती में बिद्युत सप्लाई


 लाईनमैन के पद पर तैनात दिखाता है अधिकारियों से बढ़कर रौव


 जब कि बिद्युत पोल पर चढ़ना भी नही आता है रौव वाले लाईनमैन कों


मैनपुरी -कुरावली। नगर में संचालित बिद्युत सब स्टेशन पर तैनात अधिकारियों और कर्मचारियों की लापरवाहियों और मनमानी का सिलसिला थमने का नाम नही ले रहा है। इनकी मनमानी से नगर के लोगो को भारी परेशानियों से जूझना पड़ रहा है। नगर के लोगो की परेशानी की तो इन लोगो को कतई चिन्ता नही है। बिद्युत सब स्टेशन के माहौल की बात करें तो जो बिद्युत बिभाग में लाईनमैन के पद पर तैनात जिन्हे बिद्युत पोल पर चढ़ना भी नही आता वह बिद्युत सब स्टेशन की तरफ से जाकर नगर व क्षेत्र के लोगो पर रौव झाड़ते हुए देखे जाते है। इसीलिए बिद्युत सब स्टेशन का माहौल कुछ ज्यादा ही बिगड़ा हुआ है। यहां पर तैनात कर्मचारियों को जब अपने कर्मचारियों की चिन्ता नही है तो आम लोगो की क्या औकात है।बताते चले कि नगर के मौहल्ला घरनाजपुर नई वस्ती में बिद्युत पोलों को लगायें हुयें तीन सालों का समय बीत चुका है उन पोलो पर बिद्युत लाईन भी बिछा दी गई है। लेकिन बिद्युत सप्लाई शुरू नही कराई गई। इसलिए घरनाजपुर नई बस्ती के लोग अपने दिन कैसे काट रहे होगे इसका अंदाज लगाना किसी के लिए मुश्किल नही है। नई वस्ती घरनाजपुर में जिस स्थान पर एसीवी केबिल बिछाई गई है। उन पोलो पर बिद्युत सप्लाई आने का लोग काफी समय से इंतजार कर रहे है।


बिद्युत सब स्टेशन पर तैनात कर्मचारियों की लापरवाही की बात करें तो कुछ दिन पूर्व एक लाईनमैन बाई पास रोड पर बिद्युत लाईन को सही करने के लिए पोल पर चढ़ गया जब वह बिद्युत लाईन सही कर रहा था। तभी तैनात बिद्युत कर्मचारी के द्वारा बिद्युत सफ्लाई को चालू कर दिया गया। वेचारा लाईनमैन किसी प्रकार से अपने आप को बचा पाया बिद्युत सप्लाई चालू होने की बजह से करीव एक घंटे तक लाईन उसी पोल पर लटका रहा। मौहल्ला के लोगो ने प्रयास किया तब कहीं बिद्युत लाईन बंद हो सकी तब कहीं लाईन पोल से नीचे उतर सका।


वहीं नगर व क्षेत्र के लोगो पर रौव झाडने की बात करें। तो बिद्युत सब स्टेशन पर तैनात बिनोद कुमार बिद्युत सब स्टेशन पर एक लाईनमैन के पद पर तैनात है। सूत्रों से जानकारी प्राप्त हुई है कि उसे बिद्युत पोल पर चढ़ना भी नही आता है। ऊपर से जब कहीं बिद्युत लाईन सहीं हो रही होती है तो इस अंदाज में जाता है कि मानों बिद्युत सब स्टेशन का सबसे बड़ा अधिकारी यहीं हों। उसके रौव दिखाने से नगर के लोग दुखी हो चुके है!


भाजपा नेत्री के घर गोल्ड मेडलिस्ट की हत्या

भाजपा नेत्री के घर पंखे से लटका मिला


पार्टी की सदस्यता लेने हरदोई से आया था गोल्ड मेडल विजेता "आत्महत्या" का कारण अभी अज्ञात‌ ?


लखनऊ। राजधानी के पड़ोसी जिले हरदोई से भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता लेने आए गोल्ड मेडल विजेता पहलवान की भाजपा नेत्री के घर रहस्यमय परिस्थितियों में मौत हो गई, उसका शव पंखे से लटकता पाया गया। भाजपा नेत्री रेशम सिंह द्वारा आत्महत्या कर लिए जाने की बात कह रहीं हैं।पुलिस को आज सुबह सूचना दी गई कि ठाकुरगंज थाना अंतर्गत 546/ 786 सरफराजगंज स्थित भाजपा की अवधि क्षेत्र की मीडिया प्रभारी के घर पर 26 वर्षीय रेशम सिंह नामक युवक ने पंखे से लटककर "आत्महत्या" कर ली है। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को नीचे उतारकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा।
भाजपा नेत्री ने पुलिस को बताया कि रेशम सिंह कल अपने दोस्त वारिस गाजी के साथ पार्टी की सदस्यता ग्रहण करने के लिए लखनऊ आया था और रात उनके घर रुक गया था। सुबह जब वह नहीं उठा तो बाहर से देखा गया तो वह चादर के सहारे छत के पंखे से लटका हुआ था। इंटरनेशनल पहलवानी में गोल्ड मेडल जीतने वाले रेशम सिंह के भाजपा की सदस्यता लेने के उपरांत जरूरी कागज "खो" गए जिसकी उसने पुलिस में शिकायत भी की थी। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजे जाने के समय मौके पर मौजूद रेशम सिंह के भाई ने बताया कि कल जब उसका भाई घर से निकला तो एकदम सही था, पता नहीं ऐसी क्या बात हुई जो उसने रात में फांसी लगा ली। हरदोई के बालामऊ निवासी राम सिंह के पुत्र रेशम सिंह का मोबाइल भी गायब है।
क्षेत्राधिकारी चौक दुर्गा प्रसाद तिवारी के अनुसार मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। पूरे मामले की जांच की जा रही है। पुलिस को पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है।


सड़क हादसे में पिता घायल पुत्री की मौत

तेज रफ्तार ट्रैक्टर की ठोकर से स्कूटी सवार पुत्री की मौत,पिता गंभीर रूप से घायल


कोरबा ! प्रशासन के अनेकों जतन के बाद भी जिले में सड़क हादसों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है।आए दिन किसी न किसी मार्ग में सड़क हादसों से लोग मौत के ग्रास में समा रहे हैं।आज भी दोपहर को कटघोरा थाना क्षेत्र अंतर्गत छुरी कटघोरा मुख्य मार्ग में तेज रफतार ट्रैक्टर के चालक ने तेजी व लापरवाही पूर्वक वाहन चलाते हुए छात्रावास से अपनी पुत्री को लेकर वापस लौट रहे स्कूटी सवार पिता-पुत्री को अपनी चपेट में ले लिया।जिससे पुत्री की मौके पर ही मौत हो गई जबकि पिता को गंभीर अवस्था में इलाज के लिए स्थानीय अस्पताल में दाखिल कराया गया है।उधर घटना से आक्रोशित बस्ती वासियों ने कटघोरा कोरबा मुख्य मार्ग में चक्का जाम कर दिया।जहाँ हादसे की सूचना मिलते ही कटघोरा थाना प्रभारी रघुनंदन शर्मा दलबल सहित मौके पर पहुंच गए।और समाचार लिखे जाने तक उनके द्वारा चक्काजाम पर अड़े ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया जा रहा था।ग्रामीणों की मांग है कि मृत छात्रा के परिजनों को उचित मुआवजा दी जाए।वहीं इस मार्ग में वाहनों की रफ्तार पर लगाम लगाई जाने को लेकर ग्रामीण अपनी मांगों पर अड़े हुए थे।जिसकी वजह से कोरबा कटघोरा मुख्य मार्ग में वाहनों की लंबी कतार लग गई थी।और फिलहाल आगे की खबर अभी नही मिल पाई है।


ज्ञात रहे कि जिला पुलिस द्वारा लगातार हादसों को रोकने का प्रयास किया जा रहा है।लेकिन वाहनों की बढ़ती संख्या के चलते आए दिन किसी न किसी मार्ग में सड़क हादसे हो रहे हैं।और लोगों की जान जा रही है।शनिवार को करतला थाना क्षेत्र अंतर्गत रामपुर पेट्रोल पंप के समीप चलाते हुए बाइक चालकों को अपनी चपेट में ले लिया था।जिससे बाइक सवार एक युवक की मौके पर ही मौत हो गई थी।जबकि दूसरे युवक को गंभीर अवस्था में उपचार के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया था।लगातार बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं को लेकर प्रशासन और पुलिस को गहन चिंता करने की विषय है कि आखिर किस तरह इन हादसों को रोका जा सके ?


दलित प्रोफ़ेसर के साथ गाली-गलौच अभद्रता

दलित प्रोफेसर के साथ अभद्रता ब गाली गलौज की घटना


झांसी ! बुंदेलखंड कॉलेज झांसी के कार्यवाहक प्राचार्य डॉक्टर बाबू लाल तिवारी अचानक अपने साथियों के साथ b.Ed विभाग पहुंचे! जहां पर b.Ed विभाग के वरिष्ठ प्रवक्ता डॉक्टर अश्वनी कुमार बैठे हुए थे !प्राचार्य महोदय ने डॉ अश्वनी कुमार की कॉलर पकड़कर, गाली गलौज करने लगे! b.ed प्रथम वर्ष के छात्रों को बुलाकर इनके सामने अपमानित किया!


धुबिया होकर पढ़ाने का कार्य करता है !इस धोबी से तुम छात्रों को पढ़ने की जरूरत नहीं है ! इसके बाद प्राचार्य महोदय दलित शिक्षक डॉ अश्वनी कुमार घसीटते हुए टीचर स्टाफ रूम के पास स्टेज पर लाकर खड़ा कर दिया ! गाली गलौज करने लगे बार-बार जाति सूचक शब्दों से अपमानित कर रहे थे और कह रहे थे ! कि कॉलेज परिसर है इस कारण छोड़ रहा हूं! कॉलेज के बाहर होते तो जान से मार डालते दलित शिक्षक डॉ अश्वनी कुमार डरे सहमे अपने घर की और चले गए! शिक्षक व कर्मचारियों में भय बा असंतोष का माहौल बन गया है!


सरकार और किसान (संपादकीय)


खेती की बढ़ती लागत बढ़ती आत्महत्या की घटनाएं और बेबस बेहाल छोटे किसानों पर विशेष



भारत जैसे देश में किसान को भगवान कहा जाता है और यहां पर समय समय ऐसी फिल्में भी बनी है जिसमें भगवान को भक्त किसान के घर आकर उसकी चाकरी भी करनी पड़ती है और लक्ष्मी जी को भी विवश होकर अपने पति परमेश्वर के साथ किसान के घर रूप बदलकर रहना पड़ा है। किसान को भगवान इसलिए कहा जाता है क्योंकि वह जीव जंतु पशु पक्षियों से लेकर हर मनुष्यों तक का पेट भरता है और खुद नंगा भूखा सो जाता है। वह जिस कड़ी मेहनत से अपनी जान हथेली पर लेकर भगवान के सहारे खेती करता है यह जगजाहिर है। आज भले ही सरकार किसानों के खाद बीज दवा पानी और उसके विकास के नाम पर तमाम योजनाएं चलाती हो लेकिन दुख के साथ कहना पड़ रहा है कि आज भी देश के विभिन्न कोनों में हमारे किसानों को कर्ज के तले दबकर आत्महत्या करनी पड़ रही है।किसान और उसकी किसानी निम्न, मध्यम एवं उच्च तीन श्रेणी में विभाजित है। निम्न श्रेणी के किसान वह होते हैं जिनके पास एक हेक्टेयर या उससे कम खेती होती है जिन्हें खेतिहर किसान मजदूर कहा जाता है। ऐसे किसानों के यहां अगर बाहर से कोई कमाई करने वाला नहीं है तो वह खेती नहीं कर सकता है क्योंकि आजकल के जमाने में खेती करने में भी पर्याप्त धन की आवश्यकता होती है। एक हेक्टेयर से कम जमीन वाले किसानों के पास साल भर खाने तक का अनाज कभी कभी नहीं पैदा हो पाता है।बीमारी आजारी शादी ब्याह जैसे घर गृहस्थी के कार्य चलाने के लिए अन्ततः एक कर्ज़ ही सहारा होता है और उसे न चाहते हुए भी मजबूरी में लेना पड़ता है। आज भले ही हमारी सरकार किसानों के लिए तमाम बैंकिंग सेवाएं उपलब्ध करवा रही हो उसके बावजूद आज भी लोगों को प्राइवेट यानी साहूकारों का सहारा लेना पड़ता है कभी- कभी तो घर गृहस्थी चलाने में घर के सारे जेवर और खेती तक गिरवी रख देना या बेच देना पड़ता है। मध्यम वर्ग का किसान वह होता है जिसके पास 2 से ढाई हेक्टेयर भूमि होती है। इनमें वह लोग आते हैं जिनके घर में बाहर से आमदनी का थोड़ा बहुत जरिया होता है। वह बाहरी कमाई को खेती में लगाकर खेती से पैदा होने वाले अनाज से अपना पेट भर लेता हैं और किसी तरह घर गृहस्थी चला लेते हैं। तीसरा उच्च किसान वह होता है जिसके पास दो से 4-5 हेक्टेयर या उससे अधिक भूमि होती है।खेती में सबसे छोटे किसान को जहां अपनी लागत पूंजी बचाना मुश्किल हो जाता है वही मध्यमवर्ग के किसानों का हानि लाभ बराबर रहता है बशर्ते उसकी फसल देवी प्रकोप एवं अन्य किसी प्रकार से बच जाए। कहने का मतलब है कि खेती से लाभ 2 हेक्टेयर से अधिक भूमि वाले किसानों को ही मिल सकता है और वहीं व्यवसायिक खेती मी कर सकते हैं।यही कारण है कि छोटे एवं मध्यम वर्ग के किसानों की हालत आज भी दयनीय बनी हुई है क्योंकि खेती की लागत दिनोंदिन बढ़ती जा रही है और दैवी प्रकोप ही नहीं जंगली एवं आवारा पशुओं से बरबादी का खतरा बढ़ता जा रहा है।जलवायु परिवर्तन के चलते करीब-करीब हर साल किसान को बाढ़ तूफान सूखा बीमारी का सामना करना पड़ता है ऐसी हालत में महंगी पूंजी लगाकर उसे वापस करने में उसे लाले लग जाते हैं। आज छोटे एवं मध्यम वर्ग के जो किसान मजदूर के सहारे खेती करते हैं उन्हें तेजी से बढ़ती मजदूरी के साथ ही साथ महंगी दवाइयों बीजों जुताई खाद पानी का भी सामना करना पड़ रहा है। धान की एक दो बीघा खेती करने के लिए आज की तारीख में कम से डेढ़ से दो हजार रुपए लग जाते हैं इसके बाद खाद दवा पानी के नाम पर भी डेढ़ से दो हजार रुपए लग जाते हैं। इस तरह कुल मिलाकर पांच हजार रुपए के आसपास लग जाते हैं जबकि 3 से 5 कुंटल ज्यादा पैदावार नहीं हो पाती है जबकि साधन संपन्न बड़े किसानों को कम लागत में अच्छी पैदावार मिल जाती है जिससे उनकी हालत सुधर जाती है। छोटे किसानों को लागत अधिक लगानी पड़ती है लेकिन फायदा उन्हें नहीं होता है क्योंकि वह साधन के अभाव में न तो समय पर जुताई बुवाई करा पाते हैं और न ही निकाई दवाई बीज सिंचाई ही कर पाते हैं। समय पर जुताई बुआई सिंचाई निकाई दवाई खाद पानी उपलब्ध न हो पाने के कारण उसकी हालत पतली रहती है। हमारी सरकार द्वारा किसानों की आमदनी दूनी करने का बीड़ा उठाया गया है साथ ही किसान सम्मान योजना की शुरुआत भी की गई है जिसका लाभ चुनाव के पहले ही तमाम भाग्यशाली किसानों को बिना किसी दौड़भाग के एक नहीं दो दो किस्त के रूप में मिल चुका है लेकिन जो किसान प्रधानमंत्री की सम्मान योजना से वंचित रह गए हैं अब उन्हें अपना पंजीकरण कराने के लिए इधर उधर नामित अधिकारियों कर्मचारियों के पास दौड़ना पड़ा रहा है। किसान को देश की रीढ़ माना जाता है इसलिए छोटे किसानों के वजूद को बचाए रखना राष्ट्रहित में जरूरी है क्योंकि उसी बेवश बेचारे किसान के त्याग बलिदान के बल पर देश हरा भरा सोन चिर्रैया जैसा बना हुआ है और जय जवान जय किसान कहा जाता है।



भोलानाथ मिश्र


पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय बैठक जारी

करतारपुर कॉरिडोर पर पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय बैठक जारी


नई दिल्ली ! करतारपुर कोरॉडोर और इससे जुड़े तमाम तकनीकी मुद्दों को लेकर भारत और पाकिस्तान के वरिष्ठ अधिकारियों की मुलाकात जारी। इस मुलाकात से पहले पाकिस्तान ने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी का पुनर्गठन किया है।इस कमेटी से खालिस्तान के नेता गोपाल सिंह चावला को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। बता दें कि भारत ने गोपास सिंह चावला के नाम पर आपत्ति जताई थी।जानकारी के अनुसार पाकिस्तान का 20 सदस्यों का डेलीगेशन मुलाकात के लिए पहुंच रहा है। जिसमे पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता डॉक्टर मोहम्मद फैसल भी शामिल हैं।


बता दें कि इससे पहले दो अप्रैल को भारत और पाकिस्तान के के बीच इस मसले को लेकर दूसरे दौर की बैठक होनी थी, लेकिन इसे स्थगति कर दिया गया था। लेकिन एक बार फिर से भारत इस मुलाकात के दौरान कई मुद्दों पर पाकिस्तान से बात करने के लिए तैयार है, जिसमे मुख्य रूप से इंफ्रास्ट्रक्चर, श्रद्धालुओं के आवागमन, उनकी सुरक्षा अहम हैं। बता दें कि करतारपुर कॉरिडोर तकरीबन तीन किलोमीटर लंबा है।


भारत पूरे प्रोजेक्ट को इस साल के 31 अक्टूबर तक पूरा करना चाहता है। करतारपुर कॉरिडोर के निर्माण के लिए भारत 500 करोड़ खर्च करेगा। इसके साथ भारत उच्च तकनीक निगरानी प्रणाली का उपयोग करेगा और एक मजबूत सुरक्षा प्रणाली का उपयोग किया जाएगा। यह कॉरिडोर पाकिस्तान के करतारपुर स्थित दरबार साहिब को गुरदासपुर जिला स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारा से जोड़ेगा और भारतीय सिख श्रद्धालुओं की वीजा मुक्त आवाजाही को सुगम बनाएगा।


पुलिस ने फौजी के साथ की अभद्रता: रोस

औरैया ! कस्बा दिबियापुर में चंद्र नगर सेहुद बंबा के पास वाहन चेकिंग के दौरान पुलिस कर्मियों की अभद्रता का विरोध करने पर पुलिस कर्मियों ने एक फौजी के साथ दिबियापुर की पुलिस ने की हाथापाई


मोहल्ला चंद्रनगर के पास दिबियापुर पुलिस के द्वारा चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था तभी कुछ देर के बाद वहाँ औरैया CO सिटी मौके पर आ गए तभी वहां कैनाल रोड की तरफ से पैशन प्रो गाड़ी से एक फौजी आ रहा था COसिटी के साथ तैनात सिफाही ने फौजी को रोका क्यों कि वो बिना हेलमेट था सिफाही के रोकने पर फौजी ने अपनी बाइक रोक दी सिपाही ने फौजी के साथ अभ्रदता की तो फौजी ने उसका विरोध किया तो दिबियापुर पुलिस ने फौजी के साथ हाथापाई शुरू कर दी इस मौके पर औरैया के CO साहब मौके पर थे पर उन्होंने रोकने की कोशिश नही की और फौजी को CO सिटी की गाड़ी में डाल कर दिबियापुर थाने ले गए जब दिबियापुर थाने में पत्रकार इस घटना की जानकारी लेने के लिए पहुचे तो CO सिटी ने पल्ला झाड़ते हुए ऐसा मामला न होने की बात कही!दिबियापुर पुलिस के सिपाही खुद बिना हेलमेट के रोड पर फर्राटा भर रहे है जो सिपाही व दरोगा जी चेकिंग अभियान चला रहे थे वो खुद बिना हेलमेट बाद में जाते दिखे जब खुद नियम का उल्लंघन करेंगे तो जनता क्यों नही करेगी!


क्या उत्तर प्रदेश की पुलिस को ऐसे महान फौजियों पर हाथ उठाने का हक है? जो फौजी दिन रात एक करके हमारे देश की रक्षा कर रहे है उनके साथ पुलिस इस तरह का व्यवहार कर रही है!


जांच करने गए पुलिसकर्मी की पीट-पीटकर हत्या

जमीन विवाद की जांच करने गए पुलिसकर्मी की पीट-पीटकरहत्या


 राजसमंद ! जिले में मॉब लिंचिंग की एक चौंका देने वाली घटना सामने आई है। इस बार मॉब लिंचिंग का शिकार राजस्थान पुलिस का हेड कॉन्स्टेबल हुआ है। शनिवार को राजसमंद में एक हेड कॉन्स्टेबल की कुछ लोगों ने पीट-पीट कर हत्या कर दी।जानकारी के मुताबिक कॉन्स्टेबल गनी मोहम्मद मामले की जांच करने गांव में गए थे। इस दौरान मामले में लिप्त आरोपियों ने कॉन्स्टेबल की पिटाई शुरू कर दी। इस पूरी घटना के दौरान किसी ने भी पुलिस के सिपाही को नहीं बचाया।


पुलिस अधीक्षक भुवन भूषण ने बताया कि भीम थाने में तैनात कॉन्स्टेबल अब्दुल गनी जमीन विवाद से जुड़े एक मामले की जांच के लिए हमेला की बेर गांव गये थे। इस दौरान उनकी अतिक्रमण कारियो से किसी बात पर बहस हो गई। जिसके बाद वहां मौजूद 4-5 लोगों ने गनी मोहम्मद को पीटना शुरू कर दिया। पिटाई के बाद कॉन्स्टेबल गनी मोहम्मद को घायल अवस्था में भीम अस्‍पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।


घटना ने राज्य के पुलिस विभाग में हडकंप मचा दिया दिया है। पुलिस अधीक्षक के अनुसार इस प्रकरण में शामिल लोगों की पहचान करने की कोशिश की जा रही है। बताया जा रहा है कि कॉन्स्टेबल की पिटाई की सूचना पर डीएसपी राजेंद्र सिंह, सीआई लाभूराम विश्नोई और पुलिस टीम मौके पर पहुंची और पड़ताल शुरू की।


आजम के खिलाफ 23 मामले,हो सकती है गिरफ्तारी

आजम खान के खिलाफ 23 मामले दर्ज, कभी भी हो सकते हैं गिरफ्तार


रामपुर ! समाजवादी पार्टी के नेता और लोकसभा सांसद आजम खान की मुश्किल काफी बढ़ गई है और कभी भी गिरफ्तार हो सकते हैं। पुलिस ने बताया कि आजम खान ने दो दर्जन से अधिक किसानों को कई दिनों तक जबरन गैरकानूनी तरीके से बंधक बनाया गया, उनका शोषण किया गया और उनकी जमीन को हथिया लिया गया। आजम खान के खिलाफ जो आपराधिक मामला दर्ज हुआ है उसके अनुसार फर्जीवाड़ा करके जमीन पर कब्जा किया गया।रामपुर के अजीम नगर पुलिस स्टेशन में दर्ज मामले के अनुसार आजम खान और उनके करीबी, पूर्व डीएसपी आलेहसन खान ने दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा किया और सैकड़ों करोड़ रुपए की जमीन को आजम खान के निजी विश्वविद्यालय मोहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के लिए कब्जा किया।


रामपुर के एसपी अजय पाल शर्मा ने बताया कि इस बाबत 26 किसानों ने शिकायत में कहा है कि आजम खान और आलेहसन ने जबरन उन्हें बंधक बनाया और उनपर दबावा डाला कि वह फर्जी दस्तावेज पर अपनी जमीन को बेचने के लिए हस्ताक्षर करें।


शर्मा ने बताया कि जब किसानों ने हस्ताक्षर करने से मना कर दिया तो उनकी जमीन पर कब्जा कर लिया गया। आलेहसन उस वक्त रामपुर के सीओ थे, उन्होंने अपने पद का गलत इस्तेमाल किया और किसानों की जमीन पर कब्जा किया, ये किसान काफी गरीब थे।तथ्यों की पुष्टि के बाद हमने आजम खान और आलेहसन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। उत्तर प्रदेश के राजस्व विभाग द्वारा जांच के बाद यह मामला दर्ज किया गया है। रामपुर के पुलिस मुखिया ने बताया कि राजस्व विभाग की मुख्य शिकायत के आधार पर 26 अलग-अलग मामले दर्ज किए हैं।


मंत्री ने वायरल वीडियो को बताया फर्जी

स्वास्थ्य मंत्री ने वायरल वीडियो को फर्जी करार दिया


संवाददाता-विवेक चौबे


गढ़वा ! बड़ी तेजी से शोशल मिडिया पर एक लेन-देन का वीडियो वायरल हो रहा है।वायरल वीडियो में विपक्षी पार्टी के अनुसार लेवी,रिश्वत,पिसी,घुस आदि कई शब्दों का प्रयोग धड़ल्ले से किया जा रहा है।जिस वायरल वीडियो की हम बात कर रहे हैं,वह किसी आम-अवाम,प्रशाशन,अधिकारी व पदाधिकारी की नहीं बल्कि झारखण्ड के सूबे के स्वास्थ्य मंत्री सह विश्रामपुर विधायक-रामचंद्र चंद्रवंशी की है।


जी हाँ,जिनका नाम ही हो ऐसा,भला क्यों करेंगे काम वैसा


बीजेपी का दामन तो पाक है।दामन पर कालिख पोतने का कार्य तो मंत्री के कुछ नासमझ विरोधी के द्वारा बात का बतकड़ बनाकर बल्कि यों कहें की वीडियो को तोड़-मरोड़ कर वायरल किया गया।मंत्री-रामचंद्र चंद्रवंशी ने स्वयं साफ-साफ शब्दों में वायरल वीडियो को फर्जी करार देते हुए बताया की वे बरडीहा प्रखण्ड के आदर गांव में ग्यारह जुलाई को एक योजना का शिलान्यास करने पहुंचे थे।वहां प्रशाशन के पदाधिकारियों के अलावे दो हजार की संख्या में लोग उपस्थित थे।ग्रामीणों ने मंत्री से पचास हजार रु की लागत से एक चबूतरा का निर्माण कराने की मांग रखे।इसके आगे आप खुद हीं मंत्री का ब्यान सुनें।


मंत्री ने कहा की दो युवकों के द्वारा फर्जी वीडियो वायरल कर बदनाम करने की कोशिश की गयी है।फर्जी वीडियो वायरल करने में राहुल ठाकुर व सतीश यादव का नाम शामिल है।मंत्री ने दोषी युवकों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश पुलिस को दे दिया है।अब मंत्री को रिश्वतखोर कहना तो बिल्कुल गलत होगा।वैसे वायरल वीडियो को छोड़ कर ऐसे भी समझा जा सकता है की रामचंद्र चंद्रवंशी एक स्वास्थ्य मंत्री हैं,नासमझ थोड़े हैं की भरी सभा में रिश्वत लेंगे।


नैनीताल डीएम का संस्था ने किया स्वागत

नैनीताल ! एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू कोषाध्यक्ष बलराम हालदार के नेतृत्व में संस्था के माध्यम से नवनियुक्त डीएम सविन बंसल को संस्था पदाधिकारियों ने शॉल ओढ़ाकर व भगवान गणेश जी की प्रतिमा देकर स्वागत किया!
इस दौरान एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था के अध्यक्ष योगेन्द्र कुमार साहू उपाध्यक्ष लोकेश कुमार साहू ने संयुक्त रूप से कहा की हम नैनीताल जिले में नवनियुक्त डीएम सविन बंसल से आशा करते हैं कि नैनीताल जिले को नशा मुक्त अपराध मुक्त भ्रष्टाचार मुक्त बनाने में आपका अहम योगदान होगा क्योंकि पिछले कुछ दिनों में हल्द्वानी शहर सहित पूरे नैनीताल जिले में जिस तेजी से अपराध,नशा व भ्रष्टाचार आगे बढ़ रहा है ! यह बहुत चिंता का विषय है ! जिस पर पूर्ण रूप से अंकुश लगाना बहुत जरूरी है और हम सबकी भारतीय होने के नाते यह नैतिक जिम्मेदारी है कि हम अपने क्षेत्र व शहर व जिले को प्रदेश व देश को नशा मुक्त अपराध मुक्त भ्रष्टाचार मुक्त बनाने के लिए हम सबको अपने अंदर जागरुकता उत्पन्न करनी होगी! क्योंकि किसी भी अपराध नशा भ्रष्टाचारी बीमारी से मुक्ति पाने के लिए इंसान का जागरूक होना बहुत जरूरी है! और जिस दिन हम भारतवासी अपराध की जड़ नशा के प्रति जागरूक हो गये उस दिन हमारे भारत में नशे के साथ साथ अपराध भ्रष्टाचार का नामोनिशान नहीं होगा तभी हम अपने आने वाली पीढ़ियों को अच्छे वातावरण व संस्कार दे सकेंगे तभी हमारा भारत विश्व गुरु बनेगा और एक समाज श्रेष्ठ समाज संस्था क्षेत्रवासियों व भारत वासियों को नशा मुक्त भ्रष्टाचार मुक्त अपराध मुक्त अभियान के अंतर्गत जागरूक करने का लगातार प्रयास कर रही है! और आगे भी करती रहेगी क्योंकि नशा मुक्त भारत हर भारतीय नागरिक की आवश्यकता है! साथ ही साथ संस्था प्रशासन के सभी अच्छे कार्यों में सहयोग करने के लिए सदैव तैयार रहेगी!
इस दौरान नवनियुक्त डीएम सविन बंसल का स्वागत करने में संस्था महिला अध्यक्ष नम्रता सिंह उपाध्यक्ष लोकेश कुमार साहू कोषाध्यक्ष बलराम हालदार अनूप सिंह मुकेश सरकार सूरज मिस्त्री मुकेश कुमार आदि लोग उपस्थित रहे!


मेरठ: भीड़ हिंसा का मामला प्रकाश में आया

मेडिकल के कालियागढ़ी में दबंगों के हौंसले बुलंद, युवक को लाठी-डंडों से पीटते हुए वीडियो वायरल, जान भी जा सकती थी युवक की


 


मेरठ ! दो दिन पहले का एक वीडियो वायरल हो रहा है जो देश में चल रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं की भयावहता को एक बार फिर से उजागर कर रहा है। पांच मिनट के इस वायरल वीडियो में दो युवक लाठी से युवक को नीचे गिराकर बेहरहमी से पिटाई नहीं बल्कि कूट रहे हैं। पीड़ित युवक की चीखें पूरे मोहल्ले में सुनाई दे रही है लेकिन लोग अपने छतों, घर के दरवाजो पे खड़े ये खौफनाक मंजर चुपचाप देख रहे हैं। युवक रो रहा है और चिल्ला रहा है! लेकिन उस पर लाठी बरसाने वालों को जरा सी दया नहीं आ रही। एक बुर्जुग जो पायजाम पहने है वो पूरे मोहल्ले को चैलेंज यानि की चुनौती दे रहा है,है कोई जो इसे बचाने आए,देखता हूं कौन है इसका हिमायती,ये शब्द जताते हैं कि इस बुर्जुग का पीटने वालों से सीधा नाता है, वायरल वीडियो में  ये बुर्जुग पिटने वाले युवक को कह रहा है कि ये तेरी मां नहीं,जिससे पता लगता है कि पिटने वालों और पीटने वालों का आपस में कोई नाता भी है!


 बहरहाल, मामला क्या है ये  वायरल वीडियो से तो साफ नहीं हो रहा है लेकिन जो दिख रहा है वो बेहरम चेहरे और पिटाई की खौफनाक तस्वीरें जरूर हैं। इस वीडियो को देखकर सवाल भी उठते हैं, जैसे मान लिया जाए कि पिटने वाले ने कोई बहुत बड़ा जुर्म किया हो,हो भी सकता है लेकिन सवाल ये है कि आम आदमी को कानून हाथ में लेने और इस बेरहमी से पीटने का क्या हक है ! क्या ये अपने आप में बड़ा अपराध नहीं है ! सवाल ये 
भी है कि थाने में अगर पुलिस इस तरह किसी अभियुक्त को पीटती है तो पुलिसकर्मी सस्पैंड होतेहैं!
एसे में इस पिटाई से झारखंड के तरबेज की तरह इस युवक की भी जान चली जाती तो उसका जिम्मेदार कौन होता हैै? 
वीडियो में देखा जा सकता है कि इस युवक पर एक नहीं दो नहीं पूरी ताकत के साथ 21 लाठी मारी गईं जिसमें पूरी ताकत के साथ एक लाठी इस युवक के सिर पर भी लगी है, थप्पड़ अलग से बरसाए गए हैं, वीडियो में दिख रहा है कि कुछ औरतें इस युवक को बचाने के लिए कुछ कदम बढ़ाती हैं लेकिन पायजामे वाला बुर्जुग दबंग उन्हें गाली देकर वापस भेजता है ! ये भी कहता है लाना लाठी इन्हें भी बताता हूं! ये सुनकर महिलाएं वापस हो जाती हैं ! ये रौंगटे खड़ा कर देने वाला वीडियो मेरठ के थाना मेडिकल कालेज की कालियागढ़ी कोलानी में दीप ज्योति स्कूल के बराबर की बताई जाती है।


पुलिस भी भीड़ हिंसा का शिकार: मायावती

अब तो पुलिस भी भीड़ हिंसा की शिकार : मायावती



लखनऊ ! भीड़ हिंसा (मॉब लिंचिंग) की घटनाओं को लेकर बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। राज्य विधि आयोग द्वारा तैयार उप्र कांबेटिंग ऑफ मॉब लिंचिंग विधेयक-2019 का स्वागत करते हुए मायावती ने कहा कि भाजपा सरकार को सख्त कानून बनाने के साथ-साथ उसे सख्ती से हर स्तर पर लागू कराने की इच्छाशक्ति भी दिखानी होगी। मायावती ने इसके लिए बसपा सरकार से सबक लेने की सलाह भी दी।
मायावती ने कहा कि भीड़ हिंसा की घटनाएं देश भर में एक भयानक बीमारी की तरह उभर रही है। यह रोग भाजपा सरकारों की कानून का राज स्थापित न करने की नीयत व नीति की देन है!


जिससे अब केवल एससी, आदिवासी, धार्मिक अल्पसंख्यक समाज के लोग ही नहीं, बल्कि सर्वसमाज के लोग व पुलिस भी भीड़ हिंसा का शिकार बन रही है। इन घटनाओं का संज्ञान लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र व राज्य सरकारों को निर्देश दिये हैं, लेकिन उन्हें लेकर सरकारें गंभीर नहीं हैं। मायावती ने कहा कि उप्र राज्य विधि आयोग की भीड़ हिंसा की घटनाओं की रोकथाम के लिए नया सख्त कानून बनाने की सिफारिश का वह स्वागत करती हैं। कहा कि आयोग ने ऐसे मामलों में दोषियों को उम्र कैद की सजा दिये जाने की सिफारिश की है।


विधिक सेवा प्राधिकरण ने 1864 मामले निपटाए

सुलह समझौते से निपटे 1864 मामले



औरैया ! जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में शनिवार को जनपद न्यायाधीश सुशील कुमार की अध्यक्षता में लगी राष्ट्रीय लोक अदालत में राजस्व विभाग व न्यायालयों के कुल 1864 मुकदमे सुलह समझौते से तय किए गए।
प्राधिकरण के नोडल अधिकारी प्रधान न्यायाधीश परिवार न्यायालय राज बहादुर सिंह मौर्या एवं सचिव अर्चना तिवारी ने बताया कि इस लोक अदालत में मोटर दुर्घटना क्लेम के कुल 67 वाद तय हुए तथा 32.75 लाख रुपये प्रतिकर एवार्ड हुआ। विद्युत निगम के अधिवक्ता भूपेश मिश्र व अधिकारियों ने 247 मुकदमे निस्तारित कर 4.17 लाख रुपये का सेटिलमेंट किया।


मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट रामनेत ने कुल 153 वाद तय कर करीब 1.71 लाख रुपये अर्थदंड वसूला। यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों ने 76 एमवी एक्ट के चालान से करीब 77 हजार रुपये अर्थदंड वसूला। जिला जजी में सभी बैंकों व विभिन्न सरकारी विभागों ने विशेष 121 बैंक वसूली के मामले तय किए। परिवार न्यायालय के प्रधान न्यायाधीश राज बहादुर सिंह मौर्या ने सुखी दाम्पत्य जीवन व्यतीत करने के लिए कई जोड़ों में समझौता कराया। जिला जज सुशील कुमार, अपर जिला जज राजेश चौधरी, प्रथम कांत, मीनू शर्मा, रजत सिंह, सचिव अर्चना तिवारी आदि न्यायिक अधिकारियों ने सभी जोड़ों को विदा किया। अधिवक्ता कुलदीप दुबे, डीजीसी अभिषेक मिश्र रहे।(यूए)


₹1400नहीं 1300मे मिलेगी एक बोरी डीएपी

1400 नहीं अब 1300 में मिलेगी एक बोरी डीएपी

औरैया ! खरीफ की फसल के लिए सरकार की ओर से सरकारी डीएपी की बोरी में 100 रुपये कम किए गए हैं। जिससे किसानों को कुछ राहत मिलेगी। अभी तक 1400 रुपये में मिलने वाली बोरी अब 1300 में मिलेगी।
कृषि विभाग की मानें तो इससे जनपद के किसानों के एक करोड़ की बचत होगी। अभी तक किसानों को 50 किलो डीएपी की बोरी 1400 रुपये में मिल रही थी, लेकिन प्रदेश सरकार के अनुरोध पर राष्ट्रीय सहकारी संस्था इफ्को, क्राफ्को, आरसीएफ ने डीएपी में प्रति बोरी 100 रुपये कम किए हैं। जिसके चलते अब किसानों को 50 किलो डीएपी की बोरी 1300 में मिलेगी।


जिला कृषि अधिकारी आवेश कुमार सिंह ने बताया कि खरीफ की दलहन, तिलहन समेत धान की फसल में लगभग पांच हजार मीट्रिक टन डीएपी की आवश्यकता होती है, जिसके सापेक्ष नौ हजार आठ सौ 51 मीट्रिक टन स्टॉक जनपद में उपलब्ध है। प्रमुख सचिव कृषि अमित मोहन प्रसाद ने पत्र एवं ऑडियो क्लिप के माध्यम से बताया कि सभी जगह पर डीएपी की बिक्री अब नई दर से की जाएगी। उन्होंने सभी से ई-पॉस मशीन से ही बिक्री करने एवं सभी किसानों से 1300 रुपये का भुगतान कर बिल लेने को कहा है।(यूए)


आज का दिन शुभ नहीं है :सिंह

राशिफल 



मेष ---आज का दिन सामान्य है। किसी बात को लेकर भाइयों के बीच तनाव हो सकता है। परिवार में अस्थिरता का वातावरण रहेगा। माता का सहयोग प्राप्त होगा। धन संबंधी कार्यों में परेशानियां आएगी। जीवनसाथी के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। रक्त संबंधी परेशानी आ सकती है। अपने क्रोध पर नियंत्रण बनाए रखें। जीवनसाथी से विवाद होने के संकेत मिलते हैं। ससुराल पक्ष में कोई धार्मिक कार्य संपन्न हो सकता है।


वृष ------आज का दिन शुभ है। मन प्रसन्न रहेगा। रुके हुए कार्य पूर्ण होने के संकेत हैं। वाणी पर नियंत्रण रखें। अति आत्मविश्वास में किसी को अपशब्द ना कहें, किसी का अपमान ना करें, क्योंकि इससे आपका भाग्य कमजोर होगा और आपके कार्य बिगड़ सकते हैं। छोटे भाई-बहन का पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा एवं परिवार में भी सम्मान मिलेगा।


मिथुन ----आज का दिन सामान्य है। मन में अस्थिरता बनी रहेगी। कार्य करने में रुचि नहीं होगी एवं कार्यों में अनिर्णय की स्थिति बनेगी। परिवार में विवाद होने की स्थिति है। वाणी पर नियंत्रण रखें, आपके कठोर बोलने से आप के बने हुए कार्य बिगड़ सकते हैं। पिता से मतभेद हो सकते हैं। कार्य क्षेत्र में पिता यदि उचित सलाह दें तो उसे अवश्य मानें, नहीं मानने पर बड़ा नुकसान संभव है।


कर्क ----आज का दिन शुभ है। मन में विश्वास बना रहेगा। कार्यों को आत्मविश्वास पूर्ण करने से सभी कार्य में सफलता मिलेगी। शत्रुओं के इरादे कमजोर पड़ेंगे। जीवनसाथी से पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। जीवनसाथी से विचार-विमर्श में किसी प्रकार का विवाद ना करें। नई योजनाएं सफल होगी।


सिंह -----आज का दिन शुभ नहीं है। मन में अनिर्णय की स्थिति बनेगी। कार्य करने में आत्मविश्वास की कमी महसूस होगी। माता के विचारों का सम्मान करें एवं विवाद ना करें। हड्डी, जोड़ो एवं पैर के निचले हिस्से में कोई परेशानी हो सकती है। कार्य क्षेत्र में दी गई पिता की सलाह का सम्मान करें।



कन्या---- आज का दिन शुभ है। मन में प्रसन्नता रहेगी एवं सभी परिस्थितियों में सही निर्णय ले पाएंगे। सफलता मिलने के कारण मन में आत्मविश्वास बना रहेगा। हर क्षेत्र में सफलता मिलने के योग हैं। धन में स्थायित्व प्राप्त होगा। स्थायी संपत्ति के अच्छे योग बनते हैं एवं नौकरी में पदोन्नति होने के योग बनते हैं।


तुला -----आज का दिन सामान्य है। मन में तनाव रहेगा। कार्य करने में ऊर्जा की कमी महसूस होगी। सही निर्णय न ले पाने की वजह से कार्य करने के प्रति उदासीनता रहेगी। धन संबंधी परेशानी रहेगी। भाइयों से किसी बात को लेकर विवाद हो सकता है। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। पिता में आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। पिता की सलाह का सम्मान करें।



वृश्चिक----- आज का दिन शुभ है। मन में आत्मविश्वास बना रहेगा। मन प्रसन्न रहेगा एवं दिमाग सक्रिय रहेगा। कार्य करने की क्षमता बढ़ेगी एवं पुरानी बनाई हुई योजनाओं का क्रियान्वयन करने में लग जाएंगे। समाज एवं घर परिवार से बहुत सम्मान प्राप्त होगा। नौकरी वाले लोगों की पदोन्नति होने के योग हैं। व्यवसाय में उत्तरोत्तर वृद्धि होगी एवं प्रभुत्व बढ़ेगा। धन संबंधी समस्या हल होगी।


धनु--- आज का दिन शुभ नहीं है। मन में नकारात्मक विचार उत्पन्न होंगे। जीवनसाथी से किसी बात को लेकर मतभेद हो सकता है। परिवार में किसी समस्या को लेकर मन उदास रहेगा। भाग्य कमजोर रहने से कार्य आगे टल जाएंगे। किसी धार्मिक कार्य में धन खर्च होने के योग हैं। भाई-बहनों के ग्रह अभी अधिक प्रभावशाली है।



मकर ---आज का दिन शुभ है। मन में आत्मविश्वास बना रहेगा। आत्मविश्वास पूर्वक कार्य करने से सफलता मिलेगी एवं मन प्रसन्न रहेगा। भाइयों द्वारा पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा। जीवनसाथी के द्वारा सही सलाह मिलने पर सभी कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। शत्रुओं पर विजय प्राप्त कर सकेंगे। आय के साधन मजबूत होंगे। घर परिवार से पूर्ण सहयोग प्राप्त होगा।


कुंभ ----आज का दिन सामान्य है। मन में कुछ और स्थिरता रहेगी। कार्य करने में कुछ अधिक ऊर्जा महसूस होगी। सारे क्षेत्र में पहले की तरह ही कार्य सुचारू रूप से करते रहेंगे। परंतु कुछ मन में अस्थिरता रहेगी। संतान के ग्रह वर्तमान में अधिक प्रभावशाली होने के कारण संतान से वैचारिक मतभेद होते रहेंगे। परंतु स्वयं के विवेक बुद्धि का उपयोग करते हुए संतान से सामंजस्य बनाकर रखें।


मीन---- आज का दिन शुभ है। माता का आशीर्वाद पूर्ण रूप से बना रहेगा। धन संबंधी कार्य पूर्ण होंगे। भाइयों का सहयोग प्राप्त होगा। परिवार में सम्मान बढ़ेगा। संतान को सफलता प्राप्त होने से मन में हर्ष की अनुभूति होगी। शत्रुओं पर विजय प्राप्त कर सकेंगे। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। ह्रदय संबंधी परेशानी हो सकती है।


दैनिक जीवन में आदतों का महत्व

स्वस्थ जीवनशैली को कुछ समय की जरूरत है। हालांकि यह पहले की पीढ़ियों के लिए आसान था, लेकिन इन दिनों लोगों को तेजी से भागती जिंदगी के कारण इसका पालन करना कठिन लगता है। लोग कड़ी मेहनत कर रहे हैं, कड़ी मेहनत कर रहे हैं और अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने के अलावा सब कुछ कर रहे हैं। यह समय है कि हमें अपने स्वास्थ्य को गंभीरता से लेना चाहिए। कुछ स्वस्थ आदतें आपको समय पर स्वस्थ जीवन शैली विकसित करने में मदद कर सकती हैं।


स्वस्थ आदतें जिनका पालन करना चाहिए:


एक स्वस्थ आहार योजना का पालन करें: जब आप एक स्वस्थ जीवन जीने की कोशिश कर रहे हैं तो एक स्वस्थ आहार योजना का अत्यधिक महत्व है। एक स्वस्थ आहार योजना का पालन करना शुरू करें जिसमें सभी आवश्यक सूक्ष्म पोषक तत्व शामिल हैं और जंक फूड से स्पष्ट हैं।


जल्दी उठो: ज्यादातर लोग व्यायाम करने में असमर्थ होते हैं, सुबह का नाश्ता करते हैं और अपने प्रियजनों के साथ कुछ गुणवत्ता के क्षण बिताते हैं क्योंकि वे समय पर नहीं उठते हैं। प्रत्येक सुबह जल्दी उठने की आदत बनाएं ताकि आपके पास इन सभी कार्यों को समायोजित करने के लिए पर्याप्त समय हो।


व्यायाम करें: अपनी पसंद के शारीरिक व्यायाम में लिप्त होने के लिए प्रत्येक दिन कम से कम आधे घंटे का समय निकालें। आप टहलने, तैरने, योग का अभ्यास करने, गहरी सांस लेने या ऐसा कोई भी काम करना चुन सकते हैं जिसमें आपकी रुचि हो। यह डी-स्ट्रेसिंग में मदद करता है।


समय पर सोएं: चूंकि आपको जल्दी उठना है, इसलिए समय पर सोना जरूरी है। आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप हर दिन कम से कम 7-8 घंटे की नींद लें।


अपना मोबाइल एक तरफ रखें: आपको उत्पादकता बढ़ाने के लिए काम करते समय अपने फोन को अलग रखने की आदत डालनी चाहिए। जब आप घर पर हों तो अपने फोन को कुछ दूरी पर रखें और अपने परिवार के साथ क्वालिटी टाइम बिताएं। मोबाइल फोन द्वारा उत्सर्जित किरणें हानिकारक होती हैं, इस प्रकार इसे दूर रखने का सुझाव दिया जाता है विशेषकर जब आप रात को सोते हैं।


सकारात्मक मन से जुड़ें: ऐसे लोगों से दोस्ती करना हमेशा अच्छा होता है जो आपके जीवन में सकारात्मकता लाते हैं और उन लोगों से दूर रहते हैं जो नकारात्मक बातों में लिप्त रहते हैं। इसके अलावा उन लोगों के साथ मेलजोल बढ़ाएं जो नियमित रूप से स्वस्थ जीवन शैली का पालन करते हैं, जो नियमित रूप से धूम्रपान या शराब पीने जैसी अस्वस्थ आदतों में लिप्त होते हैं।


समय पर आहार लें: स्वस्थ आहार योजना का पालन करना जितना महत्वपूर्ण है, समय पर भोजन करना भी उतना ही आवश्यक है। सुनिश्चित करें कि आप अपने नाश्ते या दिन के किसी अन्य भोजन को नहीं छोड़ते हैं और अपने भोजन को सही अंतराल पर करते हैं। यह भी सुझाव दिया जाता है कि तीन बड़े वाले होने के बजाय दिन में 5-6 छोटे भोजन करें।


अपनी रुचि का पालन करें: हम में से अधिकांश इन दिनों अपने काम में इतने तल्लीन हैं कि हम अपने हितों और शौक का पालन करने के लिए समय निकालना भूल जाते हैं। अपने शौक का पालन करने के लिए कुछ समय में निचोड़ करना अच्छा होता है जैसे बागवानी, पढ़ना, लिखना या अपनी पसंद का कुछ भी। ये अस्वास्थ्यकर आदतों के लिए एक अच्छा प्रतिस्थापन के रूप में कार्य करते हैं और खाड़ी में तनाव को बनाए रखने में भी मदद करते हैं।


(यूए)


ब्रह्म परतत्व (ऋग्वेद)


ब्रह्म - वेद का पाठक अथवा ब्रह्म परमात्मा का ज्ञाता।


ऋग्वेद की अपेक्षा अन्य संहिताओं में यह साधारण प्रयोग का शब्द हो गया था, जिसका अर्थ पुरोहित है। ऋग्वेद के 'पुरुषसूक्त' (10.90) में वर्णों के चार विभाजन के सन्दर्भ में इसका जाति के अर्थ में प्रयोग हुआ है। वैदिक ग्रन्थों में यह वर्ण क्षत्रियों से ऊँचा माना गया है। राजसूय यज्ञ में ब्राह्मण क्षत्रिय को कर देता था, किन्तु इससे शतपथ ब्राह्मण में वर्णित ब्राह्मण की श्रेष्ठता न्यून नहीं होती। इस बात को बार-बार कहा गया है कि क्षत्रिय तथा ब्राह्मण की एकता से ही सर्वागींण उन्नति हो सकती है। यह स्वीकार किया गया है कि कतिपय राजन्य एवं धनसम्पन्न लोग ब्राह्मण को यदि कदाचित दबाने में समर्थ हुए हैं, तो उनका सर्वनाश भी शीघ्र ही घटित हुआ है। ब्राह्मण पृथ्वी के देवता ('भूसुर') कहे गये है, जैसे कि स्वर्ग के देवता होते हैं। ऐतरेय ब्राह्मण में ब्राह्मण को दान लेने वाला (आदायी) तथा सोम पीने वाला (आपायी) कहा गया है। उसके दो अन्य विरूद 'आवसायी' तथा 'यथाकाम-प्रयाप्य' का अर्थ अस्पष्ट है। पहले का अर्थ सब स्थानों में रहने वाला तथा दूसरे का आनन्द से घूमने वाला हो सकता है।[3]



पाणिनि काल में ब्राह्मण
कात्यायन ने चार वर्णों के भाव या कर्म को चातुर्वर्ण्य कहा है।[4] आनुपूर्वी क्रम से चारों वर्णों के लिये 'ब्राह्मणक्षत्रियविट् शूद्रा:' यह समस्त पद प्रयुक्त होता था।[5] पाणिनि ने 'ब्रह्मन्' और 'ब्राह्मण' दोनों शब्दों को पर्याय रूप में प्रयुक्त किया है। ब्रह्मन् के लिए हितकारी इस अर्थ में ब्रह्मण्य पद बनता था।[6] पतंजलि ने इसका अर्थ 'ब्राह्मणेभ्य: हितम्' किया है। उनका कहना है कि ब्रह्मन् और ब्राह्मण पर्यायवाची हैं।[7], किंतु यत् प्रत्यय ब्रह्मन शब्द से ही होता है, ब्राह्मण से नहीं। ज्ञात होता है कि पाणिनि-काल में ब्रह्मन शब्द ब्रह्मणोचित अध्यात्मिक गुण-सम्पत्ति के लिए प्रयुक्त होता था और ब्राह्मण जन्म पर आश्रित जाति के लिए। ब्राह्मण के भाव (आदर्श) और कर्म (आचार) के लिये ब्राह्मण्य पद सिद्ध किया गया है।[8] नाम मात्र के आचारहीन ब्राह्मण 'ब्रह्मबंधु' कहलाते थे। ऐतरेय ब्राह्मण, छन्दोग्य उपनिषद, श्रौतसूत्र एवं गृह्यसूत्रों में 'ब्रह्मबंधु' शब्द पाया जाता हैं। सूत्र 6।3।44 की काशिका वृत्ति में उदाहृत 'ब्रह्मबंधुतर' और 'ब्रह्मबंधुतम' प्रयोग बताते हैं कि 'ब्रह्मबंधु' पद के पीछे कुत्सा परक व्यंग्य की कई कोटियाँ थीं। पाणिनि के समय में केवल जाति का अभिमान करने वाले कर्म-विहीन ब्राह्मणों के लिए ब्रह्मबंधु की तरह 'ब्राह्मणजातीय' यह नया विशेषण भी प्रचलित हो गया था।[9]


जनपदों के अनुसार ब्राह्मणों के नाम
'ब्रह्मणो जानपदाख्यायां'[10] सूत्र से ज्ञात होता है कि भिन्न-भिन्न देशों में बस जाने के कारण ब्राह्मणों के अलग-अलग नामों की प्रथा चल पड़ी थी। कंबोज जनपद से लेकर कलिंग-अश्मक-कच्छ-सौवीर जनपदों तक फैले हुए विस्तृत प्रदेश में ब्राह्मण फैल चुके थे। स्वभावत: पृथक्-पृथक् भूखंडों के अनुसार उनके अलग नाम भी पड़े होंगे। काशिका में सुराष्ट्र ब्रह्म (सुराष्ट्रेषु ब्रह्म) और अवंति ब्रह्मा ( अवंतिषु ब्रह्मा) ये दो उदाहरण हैं। अवंतिब्रह्म मालव ब्राह्मणों के पूर्ववर्ती थे, क्योंकि उज्जयिनी के साथ शब्द का सम्बंध गुप्त काल के लगभग आरम्भ हुआ। इसी प्रकार गुजराती और कच्छी ब्राह्मणों के पूर्ववर्ती सुराष्ट्र के ब्राह्मण रहे होंगे। जनपदों के अनुसार नाम पड़ने के कारण ब्राह्मणों के पंचगौड़ और पंचद्राविड़ दो मुख्य भेद कालांतर में प्रसिद्ध हुए।


वित्त मंत्रालय की मंसा (संपादकीय)

वित्त मंत्रालय की मंसा (संपादकीय)
भारत गणराज्य में लिए गए निर्णय के लिए सरकार उत्तरदायी है ! सरकार का प्रत्येक फैसला न्याय उचित एवं संविधान- संगत होना चाहिए! जनता को समृद्ध सूचनाएं प्राप्त होनी चाहिए! राष्ट्रीय विकास और निर्माण की सामान्य जानकारी जनता को समय-समय पर मिलती रहनी चाहिए !
लोकतंत्र की स्वायत्तता के लिए यह जरूरी है! लेकिन वित्त मंत्रालय की मंशा कुछ ठीक नहीं है! वित्त मंत्रालय को किससे और क्यों पर्दा चाहिए ? पारदर्शिता को खत्म करने की साजिश क्यों रची जा रही है? बजट से आम जनता खफा है! जनता भी आपकी है और बजट भी आपकी ही सरकार का है! यदि बजट में जनता कहीं विरोध कर रही है, तो सरकार को जनता या विरोधियों की समस्या का समाधान तलाशना चाहिए! पत्रकारों को वित्त मंत्रालय से दूर रखने से कोई हल होने वाला नहीं है ! जो पत्रकार इसके विरोध में कार्य कर रहे हैं! जो जनता के स्वाभिमान की लड़ाई लड़ रहे हैं !वे पीछे नहीं हटते हैं ,वह वास्तव में लड़ते रहेंगे और वास्तविकता की तह तक जाएंगे! आखिर वित्त मंत्रालय को वह कौन सी समस्या है? जो पत्रकारों पर खींज रहा है ! पत्रकारों को रात्रि भोज में जाकर वित्त मंत्रालय की मंसा को भापने का प्रयास करना था! बहिष्कार केवल तिरस्कारी गई नीतियों का करना चाहिए ! यह संबंध की खाई को चोडी करने के समान है ! जो हमारे कर्तव्य के विरुद्ध हो सकता है! इसमें हमारे स्वार्थ जुड़े हो,लेकिन हमें अपने कर्तव्य की सार्थकता का अनुसरण करना ही होगा! इसके विपरीत वित्त मंत्रालय की मंशा और अवस्था को जानना और समझना होगा! वित्त मंत्रालय में ऐसा क्या अनैतिक हो रहा है, जो छुपाया जा रहा है! ऐसी कौन सी सूचना है, जिसके सार्वजनिक हो जाने का भय वित्त मंत्रालय को सता रहा है ! जनता से क्या छुपाना चाहता है वित्त मंत्रालय !यह सभी के लिए जाना आवश्यक बनता जा रहा है ! वित्त मंत्रालय को इसका जवाब देना ही होगा!


 राधेश्याम  'निर्भयपुत्र'


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...