सोमवार, 13 नवंबर 2023

आज गोवर्धन पूजन करने का विधान, जानिए

आज गोवर्धन पूजन करने का विधान, जानिए 

सरस्वती उपाध्याय 
पांच दिन के दीपावली महापर्व में चौथे दिन गोवर्धन की पूजा अर्चना की जाती है और हर वर्ष कार्तिक मास के शुक्ल-पक्ष की प्रतिपदा तिथि को गोवर्धन पूजन करने का विधान है। इस तिथि को अन्नकूट के नाम से जाना जाता है। क्योंकि इस दिन घरों में अन्नकूट का भोग बनाया जाता है। गोवर्धन पूजन के दिन घरों में गोबर से गोवर्धन महाराज की प्रतिमा बनाई जाती है और पूरे परिवार के साथ शुभ मुहूर्त में पूजन किया जाता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने देवराज इंद्र का घमंड चूर किया था और अपनी कनिष्ठा उंगली पर गोवर्धन पर्वत को उठाकर ब्रजवासियों की रक्षा की थी। गोवर्धन पूजा का पर्व दिवाली के दूसरे दिन मनाया जाता है। लेकिन इस बार अमावस्या तिथि दो दिन होने की वजह से गोवर्धन पूजन को लेकर बेहद कन्फ्यूजन की स्थिति बनी हुई है। आइए जानते हैं गोवर्धन पूजा का पर्व कब है? साथ ही पूजा का शुभ मुहूर्त और पूजा का सही विधान...

गोवर्धन पूजा 2023

इस बार कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि की शुरुआत 13 नवंबर दिन सोमवार से दोपहर 2 बजकर 56 मिनट से हो रही है और तिथि का समापन 14 नवंबर दिन मंगलवार को दोपहर 2 बजकर 36 मिनट पर होगा। ऐसे में उदया तिथि को मानते हुए गोवर्धन पूजन 14 नवंबर को मनाया जाएगा।

प्रतिपदा तिथि की शुरुआत- 13 नवंबर, दोपहर 2 बजकर 56 मिनट से
तिथि का समापन - 14 नवंबर, दोपहर 2 बजकर 36 मिनट पर

गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त...
गोवर्धन पूजन का शुभ मुहूर्त 14 नवंबर दिन मंगलवार को शाम 5 बजकर 25 मिनट से रात 9 बजकर 38 मिनट तक होगा।

गोवर्धन पूजा की कथा...
पौराणिक कथाओं के अनुसार, कार्तिक मास की प्रतिपदा तिथि को देवराज इंद्र की पूजा हुआ करती थी लेकिन भगवान कृष्ण ने ब्रजवासियों से कहा कि पूजा का कोई लाभ नहीं मिल रहा है।इसलिए देवराज इंद्र की पूजा ना करें। भगवान कृष्ण की बात मानकर ब्रजवासियों ने पूजा नहीं की। जब यह जानकारी इंद्र को मिली तो इंद्रदेव ने अपने घमंड के चलते पूरे ब्रज में तूफान और बारिश का कहर मचाया। तब भगवान कृष्ण ने ब्रजवासियों की रक्षा के लिए अपनी कनिष्ठा उंगली पर गोवर्धन पर्वत को उठाकर ब्रजवासियों की रक्षा की था और इंद्र के घमंड को तोड़ा था। साथ ही भगवान को सभी तरह की मौसमी सब्जियों से तैयार अन्नकूट को भोग लगाया था। तब से हर साल इस तिथि पर गोवर्धन पूजा की जाती है और अन्नकूट का भोग लगाया जाता है।

गोवर्धन पूजा का भोग...
गोवर्धन पूजन के दिन भगवान कृष्ण के लिए 56 भोग बनाए जाते हैं। साथ ही अन्नकूट का भी भोग लगता है और प्रसाद भी वितरण किया जाता है।

गोवर्धन पूजन-विधि...
गोवर्धन पूजा करने के लिए घर के आंगन में गाय के गोबर से भगवान कृष्ण की प्रतिमा बनाई जाती है। इसके साथ ही गाय, बछड़े व ब्रज आदि की भी प्रतिमा बनाई जाती है। इसके बाद उसको फूलों से सजाया जाता है। फिर शुभ मुहूर्त में गोवर्धन महाराज को रोली, अक्षत, चंदन लगाएं। फिर दूध, पान, खील बताशे, अन्नकूट अर्पित किए जाते हैं और विधि विधान के साथ पूजा अर्चना की जाती है। इसके बाद पूरे परिवार के साथ पानी में दूध मिलाकर गोवर्धन महाराज की परिक्रमा की जाती है और फिर आरती की जाती है। इसके बाद गोवर्धन महाराज के जयाकरे लगाए जाते हैं और घर के बड़ों का आशीर्वाद लिया जाता है।

गोवर्धन महाराज आरती...
श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज, तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।
तोपे पान चढ़े तोपे फूल चढ़े, तोपे चढ़े दूध की धार।
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।
तेरी सात कोस की परिकम्मा, और चकलेश्वर विश्राम
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।
तेरे गले में कण्ठा साज रहेओ, ठोड़ी पे हीरा लाल।
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।
तेरे कानन कुण्डल चमक रहेओ, तेरी झांकी बनी विशाल।
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।
गिरिराज धरण प्रभु तेरी शरण। करो भक्त का बेड़ा पार
तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ।

वजन को नियंत्रित करने में फायदेमंद है अदरक

वजन को नियंत्रित करने में फायदेमंद है अदरक

सरस्वती उपाध्याय 
वर्तमान समय में हर इंसान खुद को फिट रखना चाहता है। क्योंकि वजन बढ़ने से कई तरह की बीमारियां होने का खतरा बढ़ जाता है। वजन कम करने के लिए लोग तरह तरह के उपायों और दवाईयों का उपयोग करते हैं। वहीं वजन कम करने में अदरक एक कारगर उपाय माना जाता है। ज्यादातर लोग सर्दी जुकाम और पाचन सही रखने में ही अदरक को असरदार जानते हैं। लेकिन अदरक वजन को नियंत्रित करने में काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमें पाया जाने वाला एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-ऑक्सीडेंट्स  और एंटी बैक्टीरियल गुण शरीर में इम्युनिटी सिस्टम को बढ़ाने के साथ कई तरह की परेशानियों को दूर करने में मदद करता है।

अदरक का पाउडर
जितना अदरक कारगर होता है, उतना ही अदरक पाउडर भी फायदेमंद होता है। अदरक पाउडर का पानी के साथ नियमित सेवन करने से वजन को नियंत्रित किया जा सकता है।

अदरक और नींबू
वजन कम करने के लिए अदरक एक कारगर उपाय माना जाता है। गुनगुने पानी में अदरक और नींबू के रस को मिलाकर नियमित रूप से पीने से वजन को नियंत्रित किया जा सकता है।

अदरक और ग्रीन टी
अदरक के साथ ग्रीन टी मिलाकर पीने से वजन को नियंत्रित किया जा सकता है। इन दोनों का एक साथ सेवन वजन कम करने में बहुत असरदार माना जाता है।

अदरक और सेब
वजन कम करने के लिए अदरक और सेब का सिरका दोनों का सेवन काफा फायदेमंद माना जाता है। इसके लिए आपको अदरक के रस के साथ सेब का सिरका मिलाकर पीने से वजन को नियंत्रिक किया जा सकता है।

अदरक और शहद
शहद का सेवन सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। इससे कई तरह की समस्या से छुटकारा मिल जाता है। वहीं वजन करने के लिए अदरक के पानी के साथ शहद का सेवन करना वजन को नियंत्रित करने में काफी मददगार साबित होता है।

राज्य में फिर सरकार बनाएगी कांग्रेस: सेलजा

राज्य में फिर सरकार बनाएगी कांग्रेस: सेलजा

दुष्यंत टीकम 
रायपुर। कांग्रेस महासचिव एवं पार्टी की छत्तीसगढ़ प्रभारी कुमारी सेलजा ने दावा किया है कि कांग्रेस राज्य में फिर भारी बहुमत की सरकार बनाएगी और पार्टी द्वारा मतदाताओं को दी गई सभी गारंटी को पूरा किया जायेगा। कुमारी सेलजा ने आज यहां प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पहले चरण के मतदान के बाद यह स्पष्ट हो गया कि राज्य में तीन चौथाई बहुमत से कांग्रेस की सरकार बन रही है।
उन्होने कहा कि हम पूरे चुनाव को सकारात्मक तरीके से लड़े। हमारा प्रयास था कि हम अपने कामों के आधार पर जनता से वोट मांगे। हमारी सरकार ने पिछले पांच सालों में जो काम किया था हमारे वोट मांगने का वही बड़ा आधार था। उन्होने कहा कि हमारी सरकार ने किसान, मजदूर, युवाओं, अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति को सशक्त बनाने के लिये ठोस योजनायें बनाकर प्रभावी क्रियान्वयन किया।
ऋण माफी, धान खरीदी, राजीव गांधी किसान न्याय योजना, मजदूर न्याय योजना, स्वामी आत्मानंद स्कूल, खूबचंद बघेल स्वास्थ्य योजना ने छत्तीसगढ़ की तस्वीर बदली। हमने पांच सालों में बेरोजगारी, गरीबी के खिलाफ लड़ाई लड़ी जिससे प्रदेश की 40 लाख आबादी गरीबी रेखा से ऊपर आ गयी।हमारी सरकार के उत्कृष्ट काम ही थे, जो लोग आज चुनाव में हमारे खिलाफ झूठ उछाल रहे है। उनकी केंद्र सरकार ने हमें 65 पुरस्कार दिये। कुमारी सेलजा ने कहा कि दीपावली के शुभ अवसर पर कल लक्ष्मी पूजा के दिन कांग्रेस पार्टी ने महिलाओं के लिये “छत्तीसगढ़ गृह लक्ष्मी योजना” लांच करने का निर्णय लिया।
हमारी सरकार बनने के बाद कांग्रेस प्रत्येक महिला को 15000 रूपए प्रति वर्ष देगी। हम महिलाओं को सशक्त स्वावलंबी बनाना चाहते है हम महिलाओं के परिवार को समर्थ स्वस्थ और शिक्षित भी बनाना चाहते है। हमारे घोषणा पत्र में इसका उल्लेख है। हम उनको सक्षम बनाने के लिये गृह लक्ष्मी योजना के साथ उनके खर्च में कटौती के लिये महतारी न्याय योजना में सस्ती गैस देंगे।
उन्होने कहा कि महिलाओं के परिवारों को 10 लाख तक इलाज और उनके बच्चों के शिक्षा की व्यवस्था भी कांग्रेस की सरकार करेगी। हम महिला स्व सहायता समूह का कर्ज माफ कर महिलाओं को समर्थ बनायेंगे। उन्होने भारतीय जनता पार्टी पर महिलाओं को अंधेरे में रखकर उनका मत हासिल करने के लिये चुनाव में वादा किए गए महतारी वंदन योजना का फार्म भरवाने का षडयंत्र करने का आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा ने महिलाओं से फार्म भरवा कर उसे बेशर्मी पूर्वक कूडे कचरे में फेंक दिया।
भाजपा का यह कृत्य महिलाओं के साथ असंवेदनशीलता है। उनकी भावनाओं से खेलना है साथ ही उनकी सुरक्षा के साथ भी खिलवाड़ है। महिलाओं का मोबाईल नंबर फार्म में भरवा रहे उसको कूड़े में फेंक रहे कोई लफंगा या बदमाश किस्म का व्यक्ति उनके मोबाईल पर फोन कर तंग करेगा तो इसकी जिम्मेदारी भाजपा लेगी यह बेहद ही निदंनीय है।

पीएम सुनक ने ब्रेवरमैन को बर्खास्त किया

पीएम सुनक ने ब्रेवरमैन को बर्खास्त किया 

अखिलेश पांडेय 
लंदन। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ऋषि सुनक ने अपने सबसे वरिष्ठ मंत्रियों में से एक सुएला ब्रेवरमैन को बर्खास्त कर दिया है। ब्रिटेन सरकार से जुड़े एक सूत्र के अनुसार पीएम ऋषि सुनक ने यह फैसला सुएला ब्रेवरमैन की ओर से फ़िलिस्तीनी समर्थक प्रदर्शनकारियों के प्रति पुलिस की रणनीति की आलोचना के बाद लिया है।
यहां बताते चलें कि, ब्रेवरमैन ने पिछले हफ्ते शनिवार को हुए एक मार्च को संभालने के पुलिस के तरीके पर निशाना साधते हुए एक लेख प्रकाशित करके पीएम सुनक की मुश्किलें बढ़ा दी थीं।
आलोचकों ने कहा कि, उनके रुख ने तनाव बढ़ाने और दक्षिणपंथी प्रदर्शनकारियों को लंदन की सड़कों पर उतरने के लिए प्रोत्साहित करने में मदद की, जिससे सुनक पर कार्रवाई करने का दबाव पड़ा।

सरकार की ‘फिजूलखर्ची और विलासिता’ जिम्मेदार

सरकार की ‘फिजूलखर्ची और विलासिता’ जिम्मेदार 

इकबाल अंसारी 
तिरुवनंतपुरम। केंद्र सरकार ने सोमवार को आरोप लगाया कि केरल के आर्थिक संकट के लिए उसकी (केंद्र की) नीति नहीं, बल्कि स्थानीय वाममोर्चा सरकार की ‘फिजूलखर्ची और विलासिता’ जिम्मेदार है। केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री वी मुरलीधरन ने सवाल किया कि क्या केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ‘‘मूर्ख हैं या इस मुद्दे पर लोगों को गुमराह करने के लिए मूर्ख बनने का नाटक कर रहे हैं।’’
मुरलीधरन ने दावा किया कि मुख्यमंत्री और राज्य के वित्त मंत्री के एन बालागोपाल केंद्र द्वारा नहीं दी गयी धनराशि के विभिन्न आंकड़ो का हमेशा हवाला देते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘आप केरल के मुख्यमंत्री हैं। या तो आपको मूर्ख नहीं बनना चाहिए या आपको मूर्ख बनने का नाटक नहीं करना चाहिए एवं लोगों को गुमराह नहीं करना चाहिए। केरल के मुख्यमंत्री को देश के कानूनों का ज्ञान होना चाहिए। उन्हें राज्य की वित्तीय दशा का भी पता होना चाहिए।’’
मुरलीधरन के बयान से एक दिन पहले बालागोपाल ने केंद्र पर केरल एवं अन्य विपक्षी शासित राज्यों के साथ आर्थिक मामलों में भेदभाव का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि केरल इस संबंध में कानूनी उपाय पर विचार करेगी। बालागोपाल ने रविवार को कोल्लम में पत्रकारों से बातचीत में कहा था कि भाजपा शासित केंद्र सरकार वित्तीय मामलों में राजस्थान एवं छत्तीसगढ़ समेत विपक्षी शासित राज्यों के साथ ‘बहुत भेदभाव’ कर रही है।
उन्होंने कहा, ‘‘ उनमें सबसे अधिक भेदभाव केरल के साथ हो रहा है। हम केंद्र की हरकतों के विरूद्ध कानूनी उपायों पर गौर कर रहे हैं।’’ वाममोर्चा सरकार पर पलटवार करते हुए मुरलीधरन ने दावा किया कि केरल को कल्याणकारी पेंशन में केंद्र के हिस्से समेत जो विभिन्न आवंटन और अनुदान केंद्र से मिलने थे, वे उसे पहले ही दिये जा चुके हैं।
उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि यदि राज्य वित्तीय संकट में था, तो उसने कल्याणकारी पेंशन की अगली किस्त के लिए अनुरोध क्यों नहीं किया। उन्होंने यह भी कहा कि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से वेतन सुधार के तहत करीब 750 करोड़ रुपये जैसे कुछ अनुदान राज्य प्रशासन के कुप्रबंधन के चलते नहीं दिये गये।
विदेश राज्यमंत्री ने दावा किया कि कुछ मामलों में अनुदान या फंड के अनुरोध समय से नहीं भेजे गये या अनिवार्य दिशानिर्देशों का पालन नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि पूंजीगत निवेश के लिए 1925 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता राज्य को नहीं दी गयी क्योंकि उसने अनिवार्य अनुपालन रिपोर्ट अबतक जमा नहीं की है।
उन्होंने दावा किया कि नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट के अनुसार राज्य 7000 करोड़ रुपये की कर वसूली नहीं कर पाया। बालागोपाल ने दावा किया था कि कर संग्रहण राज्य में प्रभावी तरीके से की जा रही है।
मुरलीधरन ने कहा कि हर बार जब कोई कथित फिजूलखर्ची और विलासिता व्यय एवं भारी खर्च से केरलीयम समारोह के आयोजन को लेकर प्रश्न उठाता है ते वाममोर्चा उसके लिए केंद्र की नीतियों को जिम्मेदार ठहराता है। उन्होंने कहा, ‘‘यदि राज्य अपनी फिजूलखर्ची बंद कर देता है और उपयुक्त वित्तीय प्रबंधन करता है तो केरल की आर्थिक स्थिति सुधरेगी।’’

दिल्ली वासियों को पाबंदियों का सामना करना पड़ेगा

दिल्ली वासियों को पाबंदियों का सामना करना पड़ेगा

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट की रोक के बावजूद दीपावली के मौके पर किया गया धूम-धड़ाका अब खुद नागरिकों पर भारी पड़ गया है। जमकर आतिशबाजी छुड़ाए जाने की वजह से वायु की गुणवत्ता खराब होने पर अब दिल्लीवासियों को ग्रेप-4 पाबंदियां का सामना करना पड़ेगा। सोमवार को दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने सचिवालय में समीक्षा बैठक के बाद वायु प्रदूषण की स्थिति को लेकर बताया है कि दिल्ली वासियों को अभी पाबंदियों का सामना करना पड़ेगा। एंटी डस्ट कैंपेन को 15 दिन के लिए आगे बढ़ाते हुए अब राजधानी दिल्ली में लोगों के हाथ सेंकने के लिए लकड़ी जलाने पर भी रोक लगा दी गई है। 
पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा है कि सीक्यूएम की अगली बैठक तक दिल्ली में ग्रेप के स्टेज 4 की पाबंदियां जारी रहेंगी। जिसके अंतर्गत bs3 पेट्रोल एवं बस-4 डीजल की गाड़ियां दिल्ली में प्रतिबंधित रहेगी। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति वाले ट्रकों को छोड़कर अन्य वाहन राजधानी में प्रवेश नहीं कर पाएंगे। राजधानी दिल्ली में केवल सीएनजी एवं इलेक्ट्रिक ट्रैकों को ही प्रतिबंध से छूट दी गई है। 
पर्यावरण मंत्री ने बताया है कि आगामी 18 नवंबर तक स्कूल बंद रखने का फैसला अभी जारी रहेगा। वायु की गुणवत्ता सुधारने के लिए चलाया गया एंटी डस्ट कैम्पेन अब 30 नवंबर तक जारी रखा जाएगा। हाथ सेंकने पर लगाई गई रोक पर नजर रखने के लिए 611 टीमें ड्यूटी पर लगाई गई है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण  


1. अंक-358, (वर्ष-06)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. मंगलवार, नवंबर 14, 2023

3. शक-1944, कार्तिक, शुक्ल-पक्ष, तिथि-प्रतिपदा, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:40, सूर्यास्त: 05:29।

5. न्‍यूनतम तापमान- 15 डी.सै., अधिकतम- 24+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया  संदीप मिश्र  लखनऊ। कभी पिछड़े क्षेत्र के रूप में पहचान रखने वाले बुंदेलखंड को योगी सरकार न...