शनिवार, 15 जून 2019

कियारा और शाहिद,कबीर सिंह के प्रमोशन में जुटे

इन दिनों अपनी रिलीज़ के लिए तैयार फिल्म 'कबीर सिंह' के प्रमोशन में जुटी हैं। फिल्म के ट्रेलर में शाहिद कपूर के साथ कियारा की रोमांटिक जोड़ी और केमिस्ट्री की खूब चर्चा है। शाहिद-कियारा की जोड़ी को बॉलिवुड की एक बेहतरीन जोड़ी कहा जा रहा है। अपनी जोड़ी को लेकर हो रही तारीफ पर कियारा कहती हैं कि रोमांटिक केमिस्ट्री दिखाने के लिए दोनों को कोई मेहनत ही नहीं करनी पड़ी। 
 कियारा कहती हैं, 'शाहिद कपूर के साथ मेरी रोमांटिक जोड़ी को लोग पसंद कर रहे हैं, यह मेरे लिए बहुत बड़ी बात है। सच बताऊं तो हमने अपनी रोमांटिक केमिस्ट्री को दिखाने के लिए किसी तरह का कोई मेहनत नहीं की है। कभी-कभी ऐसा होता है कि आपको एक सीन को असल दिखाने के लिए बहुत मेहनत करना पड़ता है, लेकिन यह जो शाहिद के साथ मेरी केमिस्ट्री है, शाहिद एक ऐसे ऐक्टर हैं, जो ऐक्शन और कट के बीच काम करते हैं। मुझे कभी भी ऐसा नहीं लगा कि हम बहुत ज्यादा मेहनत करके कोई सीन शूट कर रहे थे।' 



असल जिंदगी में कियारा फिल्म के किरदार प्रीति की तरह ही हैं, खासतौर से प्यार और रिलेशनशिप के मामले में। कियारा बताती हैं, 'फिल्म कबीर सिंह में जो मेरा प्रीति का किरदार है, उससे मैं बहुत कनेक्ट फील करती हूं। प्यार के मामले में किरदार की तरह ही मैं असल जिंदगी में भी ईमानदार हूं, मैं अपने रिश्ते में बहुत ही ईमानदार रहती हूं। मैं प्यार में पूरी तरह विश्वास करने वाली लड़की हूं। मैं वन मेन-वुमन की बात को मानती हूं। मेरे लिए शादी भी बहुत महत्वपूर्ण है।' 

असल जिंदगी में प्यार और फिर ब्रेकअप के बारे में कियारा कहती हैं, 'सबकी तरह ही मेरी असल जिंदगी में भी प्यार था, मेरा भी ब्रेकअप हुआ था। हार्टब्रेक से बाहर निकलने के लिए मैंने भी रोना-धोना किया, घर से कई दिनों तक बाहर नहीं निकली, मां मेरे लिए सबसे बड़ा सहारा थी, उन्हीं के कंधे में सिर रखकर रोती थी। दोस्तों का सपॉर्ट लिया था।' 

'जब हम रिलेशनशिप में होते हैं तो अपनी एक अलग दुनिया में होते हैं, अपनी पहचान भी भूल जाते हैं। अपनी पहचान को बनाए रखना जरूरी है। इस समय मैं किसी भी तरह के रिलेशनशिप में नहीं हूं, इस समय काम पर पूरा फोकस रखा है। असल जिंदगी में कबीर सिंह जैसे आशिक का इंतजार है।' 

लिंकअप्स की खबरों पर कियारा का कहना है, 'अखबारों में जब कोई मेरे लिंकअप्स के बारे में लिखता है तो बहुत ज्यादा बुरा लगता है, शुरू-शुरू में तो बहुत ज्यादा ही अपसेट हो जाती थी, बाद में समझ गई कि यह खबरें भी मेरे काम का हिस्सा हैं। वैसे मुझे प्यार-मोहब्बत की खबरों में खुद को रखना पसंद नहीं है। मैं अपने काम को लेकर हेडलाइंस में रहना चाहती हूं।' 

शाहिद कपूर और कियारा अडवाणी स्टारर इस फिल्म में निकिता दत्ता और सुरेश ओबेरॉय की भी अहम भूमिका है। 'कबीर सिंह' साउथ की सुपरहिट फिल्म 'अर्जुन रेड्डी' का हिंदी रीमेक है। यह फिल्म 21 जून को देशभर के सिनेमाघरों में एक साथ रिलीज़ हो रही है। फिल्म को भूषण कुमार ने प्रड्यूस किया है और फिल्म 'अर्जुन रेड्डी' के निर्देशक संदीप वंगा ने फिल्म का निर्देशन किया है।


नीति आयोग की बैठक से पहले, मनमोहन की समीक्षा

निति आयोग की बैठक से पहले मनमोहन ने शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक ली
नई दिल्ली ! पूर्व प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह ने निति आयोग की बैठक से पहले कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बैठक ली !डॉ.मनमोहन सिंह ने निति आयोग की बैठक में उठाएं जाने वाले मुद्दे पर चर्चा की !इस बैठक में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत,मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ,कर्नाटक मुख्यमंत्री कुमारस्वामी, पुडुचेरी मुख्यमंत्री वी.नारायणसामी, छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बैठक में शामिल हुए।


पूर्व प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह ने सभी मुख्यमंत्रियों से निति आयोग की बैठक में सुखी पड़ी नदियों को पुनजिर्वित करने की मांग रखी,किसानों की समस्याओं की बात जोरदार तरीके से उठा कर रखा।डॉ मनमोहन सिंह ने ऐसे कई मुद्दों को निति आयोग की बैठक में रखा !


राशनकार्ड के लिए बनाई जा रही कार्ययोजना

नये राशनकार्ड के लिए बनाई जा रही है कार्ययोजना



जयपुर।खाद्य सचिव श्रीमती मुग्धा सिन्हा ने बताया कि खाद्य सुरक्षा अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार परिवार में वरिष्ठतम महिला मुखिया के नाम राशनकार्ड जारी करने की आवश्यकता, राशनकार्ड को बायोमैट्रिक फ्रेण्डली बनाने, विभिन्न तरह की सूचनाओं का निरन्तर अपडेशन करने, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के गैस कनेक्शन को राशनकार्डों से जोड़ने एवं भविष्य में राष्ट्रीय स्तर पर पोर्टेबिलिटी जैसी सुविधाओं का समावेश किये जाने की आवश्यकता पर नये राशनकार्ड जारी करने के लिए एक कार्ययोजना बनाई जा रही है।


श्रीमती सिन्हा ने शुक्रवार को सचिवालय में आयोजित बैठक के दौरान यह बात कही। उन्होंने वर्ष 2012-13 से पूर्व जारी मैन्युअल राशनकार्ड व 2012-13 के बाद जारी किये गये डिजीटाइज्ड राशनकार्डों की तुलनात्मक समीक्षा करते हुए अधिकारियों को निर्देश दिये कि राशनकार्ड का आवेदन फार्म इस प्रकार से डिजाइन किया जाये कि जिसमें राशनकार्डधारी परिवार की मुख्य सभी सूचनाओं का समावेश किया जा सके। उन्होंने बताया कि नवीन राशनकार्ड में बैंक खाता संख्या, गैस कनेक्शन की स्थिति, श्रेणी, जन्मतिथि, अटैच उचित मूल्य दुकान, सामाजिक श्रेणी, दूरभाष संख्या एवं खाद्य सुरक्षा में चयन क्रमांक आदि का अंकन हो तथा जिसमें प्रार्थी स्वयं सुरक्षित ढंग से संशोधन भी करा सके।


खाद्य सचिव ने बताया कि राशनकार्ड के आवेदन-पत्रों को ई-मित्र व अन्य उपलब्ध एजेन्सियों के माध्यम से ऑनलाईन प्राप्त करने, राशनकार्ड पर सुरक्षात्मक प्रतीक (लोगो) लगाने, एक रूपये प्रतिकिलो गेहूं की योजना का संचालन करने, सहरिया, कथौड़ी व खेरवा परिवारों को निःशुल्क गेहूं उपलब्ध कराने, राशनकार्ड पर होम डिलीवरी हाईटेक प्रणाली से स्वतः ही प्रार्थी प्रिन्ट ले सकने जैसी सम्भावनाओं पर भी विचार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार का प्रयास आम उपभोक्ताओं को सम्पूर्ण सूचनाओं सहित सही, सस्ता व सहज तरीके से राशनकार्ड उपलब्ध कराने का प्रयास है ताकि आम उपभोक्ता ज्यादा से ज्यादा लाभान्वित हो सके।


श्रीमती सिन्हा ने तेल कम्पनियों के प्रतिनिधियों को निर्देशित किया कि वे अपने गैस कनेक्शन से संबंधित डाटा राशनकार्ड के साथ लिंक करवायें ताकि गैस युक्त राशनकार्डों पर केरोसीन के वितरण का दुर्पयोग न हो। राशनकार्ड का फार्म व अन्य सूचनायें तैयार करने के लिए जिला रसद अधिकारी श्री उम्मेद सिंह की अध्यक्षता में एक उपसमिति का गठन किया जायेगा जो आगे की कार्यवाही के लिए शीघ्र ही अपने सुझाव प्रस्तुत करेंगे।


उल्लेखनीय है कि पूर्व में वर्ष 2012-13 में राशनकार्ड अभियान चलाकर आम उपभोक्ताओं को डिजीटाइज्ड राशनकार्ड उपलब्ध कराये गये थे जो 01 अप्रेल,2015 से लागू किये गये थे।बैठक में अतिरिक्त खाद्य आयुक्त श्रीमती रश्मि गुप्ता, हिन्दुस्तान पैट्रोलियम कम्पनी के उपमहाप्रबन्धक श्री मनोज गोयल, इण्डियन ऑयल कम्पनी के महाप्रबन्धक श्री एन.मण्डल, एनआईसी के वरिष्ठ तकनीकी निदेशक श्री एस.सी.गुप्ता, सूचना एवं प्रौद्योगिकी के तकनीकी अधिकारी जिला रसद अधिकारी एवं अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।


पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश, हुए गंभीर

लखीमपुर खीरी!  पुलिस महानिदेशक उत्तर प्रदेश के द्वारा जनपद खीरी नवनिर्मित जेलगेट चौकी व उससे लगे पुलिस कल्याणार्थ एसबीआई की ई-गैलरी (जनपद की प्रथम ई-गैलरी) का उद्घाटन किया गया। इसके पश्चात् पुलिस लाइन में स्थित शिशु देखभाल केन्द्र का उद्घाटन किया गया ! साथ ही पुलिस लाइन प्रांगण में आर0टी0सी0 के जवानों को प्रशिक्षण के संबंध में उद्बोधित करते हुए जनता की सेवा के लिए प्रेरित किया गया! तदोपरान्त पुलिस लाइन की संगोष्ठी कक्ष में प्रशासनिक व पुलिस राजपत्रित अधिकारियों की गोष्ठी की गयी, जिसमें कानून-व्यवस्था एवं विकास कार्यों के संबंध में मुख्यमंत्री महोदय की प्राथमिकताओं एवं शासन की मंशानुरूप कार्य करने हेतु दिशा-निर्देश दिये गये! साथ ही समस्त पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों को टीम भावना से संयुक्त रूप से आपसी सामन्जस्य से कार्य करने हेतु बताया गया।महिलाओं एवं बच्चों के साथ जो अपराधिक घटनाएं हो रही हैं, उस पर रोक लगाने हेतु कार्य योजना तैयार कर प्रत्येक थाना क्षेत्र में ऐसे संदिग्ध लोगों की लिस्ट बनाने, उन पर निगाह रखने एवं उन्हें सजा दिलाने हेतु दिशा-निर्देश दिये गये। समस्त उपजिलाधिकारी व क्षेत्राधिकारीगण को यूनाइटेड होकर सजगता, चैतन्यता, संवेदनशीलता बरतते हुए कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये।
गोष्ठी के उपरान्त पुलिस महानिदेशक, उत्तर प्रदेश द्वारा प्रेस वार्ता की गयी, तदोपरान्त जनपद के जनप्रतिनिधियों से मुलाकात की गयी। इसके पश्चात् क्षेत्राधिकारी नगर लखीमपुर कार्यालय पहुंचकर कार्यालय भवन के जीर्णोद्धार का उद्घाटन किया गया, जहाॅ से पी0डब्ल्यू0डी0 गेस्ट हाउस कलेक्ट्रेट पहुंचकर वहां से लखनऊ हेतु प्रस्थान किया गया।


अब ट्रेन में नहीं मिलेगी मसाज की सुविधा

अब नहीं मिलेगी ट्रेनों में मसाज की सुविधा


 नई दिल्ली ! रेलवे ने ट्रेनों में यात्रियों के लिए मसाज सेवा देने की अपनी योजना को शनिवार को रद्द कर दिया। इससे पहले भाजपा के एक सांसद ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को पत्र लिखकर प्रस्ताव पर आपत्ति जतायी थी। इंदौर के नवनिर्वाचित सांसद शंकर लालवानी ने रेल मंत्री को पत्र लिखकर कहा था कि महिला यात्रियों की उपस्थिति में यात्रियों को मसाज सेवाएं मुहैया कराना भारतीय संस्कृति के खिलाफ है।


रेलवे के बयान में कहा गया है कि इंदौर से शुरू होने वाली ट्रेनों में मसाज सेवाओं को प्रस्ताव पश्चिम रेलवे के रतलाम मंडल द्वारा शुरू किया गया था। जैसे ही यह प्रस्ताव पश्चिम रेलवे के उच्च अधिकारियों के संज्ञान में आया, यह प्रस्ताव वापस लेने का फैसला किया गया।


गौरतलब है कि इंदौर से चलने वाली 39 रेलगाड़ियों में सफर के दौरान यात्रियों को मालिश की सुविधा देकर अतिरिक्त राजस्व कमाने की रेलवे की नवाचारी योजना पर क्षेत्रीय बीजेपी सांसद शंकर लालवानी ने सवाल उठाए थे। लालवानी ने रेल मंत्री पीयूष गोयल को लिखे पत्र में भारतीय संस्कृति के मानकों का हवाला देते हुए रेलवे की प्रस्तावित मालिश सेवा को स्तरहीन बताया था।



गंगा के लिए संत समाज फिर एकजुट

 हरिद्वार ! स्वामी निगमानंद सरस्वती की 9 वीं पुण्यतिथि पर आज तीसरे दिन मातृ सदन में विचार गोष्टी का आयोजन कर सभा में उपस्थित लोगों से सरकार के द्वारा बृह्मचारी आत्मबोधानंद के 194 वें दिनों के अनशन के पश्चात दिए गए लिखित आश्वासन का अभी तक पालन नहीं करने को लेकर विचार आमंत्रित किये गए। सभा का संचालन प्रातः वंदनीय परमपूज्य श्री गुरुदेव स्वामी शिवानंद महाराज ने किया। सफदरजंग अस्पताल दिल्ली से शशि ने कहा कि हमें कुछ समय सरकार को जागरूक करने के लिए देना चाहिए !उसके बाद आवश्यकता पड़ी तो वे भी अनशन पर बैठ सकते हैं। बलिया से आये योगेंद्र सिंह ने कहा कि अनशन होना चाहिए, अनशन नहीं होने से पूर्व के तप का प्रभाव कम होता जाता है। भगवानदास आदर्श संस्कृत महाविद्यालय के प्रवक्ता दीपक कोठारी ने कहा कि अगर सरकार अपने लिखित आश्वासन का पालन नहीं कर रही है तो मंत्री और वरिष्ठ अधिकारियों से मिलकर उन्हें इसे पूरा करने के लिए कहना चाहिए। उन्होंने अनशन में खुद भी सहयोग करने की बात कही। ब्रह्मचारिणी पद्मावती ने कहा कि स्वामी निगमानंद सरस्वती जी का बलिदान ऐसे नहीं जाएगा और उनके कार्य को आगे बढ़ाने के लिए तप करेंगे। अगर मोदी सरकार नहीं मानी तो श्री गुरुदेव जी से यही प्रार्थना करती हूं कि अगली बार अनशन पर मैं बैठूँगी। 194 वे दिनों के अनशन करने वाले बृह्मचारी आत्मबोधानंद जी ने मातृ सदन आने पर अपने अंदर की अनुभूति बताते हुए दोहराया कि यदि सरकार आश्वासन को पूरा नहीं करती है तो वे पुनः अनशन पर बैठेंगे। स्वामी निगमानंद सरस्वती जी और स्वामी ज्ञान स्वरूप सानंद जी ने हम युवाओं के लिए ही बलिदान दिया है इसलिए उनके संकल्पों को हम आगे बढ़ाएंगे। दिल्ली से आई 11 वर्षीय विद्या ने कहा कि स्वामी निगमानंद सरस्वती जी के जैसा सन्यासी और शिष्य कोई बन नहीं सकता। सरकार झूठे वादे कर रही है। वहीं 194 दिनों तक फलाहार पर रहने वाले पुण्यानंद जी ने कहा कि ये सरकार जो गंगा के नाम पर आई है उसने सबसे ज्यादा गंगा विरोधी कार्य किये हैं। अतः हमें स्ट्रेटजी बदलना चाहिये और जन समर्थन जुटाना चाहिए। ब्रह्मचारी दयानन्द ने कहा कि स्वामी निगमानंद सरस्वती जी एक महामानव थे जिनकी त्याग, तपस्या और गुरूभक्ति का आदर्श पृथ्वी के रहने तक हजारों-लाखोँ युवक अपनाकर अपने को गौरवान्वित अनुभव करते रहेंगे। कुछ समय सरकार को दिए जाने की बात का समर्थन करते हुए कहा कि गंगा जी के इस कार्य हेतु आवश्यक होने पर वे अपनी आहुति देने को तत्पर हैं। सबके विचार उपरांत सभा का समापन पूर्व प्रातः वंदनीय श्री गुरुदेव जी ने कहा कि हम आशावान हैँ और आशा करते हैं कि सरकार वादा पूरा करेगी। संत को दिए वचन से मुकरना बड़े बड़े देवताओं को भी बहुत भारी पड़ता है। जब लोग सत्ता के मद में होता है तो भूल जाता है। परिणाम सबके सामने है। सरकार ये भी भूल जाये कि वह evm की है। घनानन्द की सरकार तो इससे भी ज्यादा मजबूत थी। यही भूल घनानंद ने किया था। संत का अपना कोई स्वार्थ नहीं होता है, संत के हृदय में ब्रह्मांड रहता है और जिनके हृदय में ब्रह्मांड रहता है उससे न टकराये और अपने वचन को पूरा करे, हम कल भी विचार आमंत्रित करेंगे, कुछ लिखित विचार भी आए हैं। लेकिन एक बात तय है कि हम अपने लक्ष्य से थोड़ा भी कम पर नहीं मानेगें। कल के विचार के बात अंतिम घोषणा की जाएगी। उन्होंने कहा कि ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद 194 दिनों के अनशन के बाद आश्रम में अनशन समाप्त होने पर पूर्ण स्वस्स्थ है लेकिन स्वामी निगमानंद सरस्वती 68 दिन और स्वामी ज्ञान स्वरूप स्नानंद जी को 110 वें दिन पूर्ण स्वस्थ अवस्था में अस्पताल ले जाकर मार दिए गए। पुलिस व प्रशासन के इन कृत्यों सहित अन्य कृत्यों को हम मा उत्तराखंड उच्च न्यायालय के समक्ष रखेंगे औऱ उनका निर्देश प्राप्त करेंगे कि क्या ये सब
संविधान सम्मत है? यदि नहीं तो इन लोगों से निपटने के लिए आखिर हमारे सामने क्या रास्ता बचा है? इस बीच सरकारी एजेंसी सतर्कता विभाग का दुरुपयोग कर हमारा लोकेशन लेकर षड्यंत्र कर मारने तक का प्रयास किया जाता है।


पानी के लिए इच्छामृत्यु की मांग की

पीने का पानी नहीं तो 3 बेटियों के साथ पिता ने मांगी इच्छा मृत्यु, पीएम को लिखा पत्र


 हाथरस ! पीने लायक पानी नहीं मिलने की समस्या से जूझ रहे एक पिता ने अपने साथ तीन मासूम बेटियों के लिए इच्छा मृत्यु की मांग की है। इसके लिए पिता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रार्थना पत्र भी लिखा है।


दरअसल, चंद्रपाल सिंह एक साल से भी अधिक समय से गांव में खारे पानी की समस्या को लेकर अधिकारियों के दफ्तरों के चक्कर लगाते रहे और शिकायत करते रहे लेकिन मामले पर कोई सुनवाई नहीं हुई।


हाथरथ जिलाधिकारी से लेकर मुख्यमंत्री दफ्तर तक में शिकायत करने पर जब कोई कार्रवाई नहीं हुई तो पिता ने बच्चियों के साथ मरना ही ज्यादा भला समझा। अधिकारियों के इस रवैये से तंग आकर चंद्रपाल ने अब इच्छा मृत्यु के लिए प्रधानमंत्री तक को पत्र लिख दिया है।


जिले के हसायन ब्लॉक क्षेत्र के गांवों में रहने वाले लाखों ग्रामीण खारे पानी की समस्या से परेशान हैं। पानी इतना ज्यादा खरा है कि इंसान क्या पशु भी इस पानी को पीने से कतराते हैं। इन गांवों में रहने वाले ग्रामीणों को पीने योग्य पानी लाने के लिए दो से तीन किलोमीटर दूर पैदल चलकर जाना पड़ता है।


विकास जिंदा है संस्था द्वारा पुरस्कार आयोजन

नेहरू युवा केन्द्र भारत सरकार एवं विकाश जिंदा है संस्था द्वारा आज दिल्ली में दिया गया पुरुष्कार

 नई दिल्ली! पालम में नेहरू युवा केंद्र ,भारत सरकार एवं विकाश जिंदा है संस्था द्वारा आयोजित योग प्रशिषण ,शिविर ,कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि शामिल होने तथा अपने विचार व्यक्त करने का सुभ अवसर प्राप्त हुआ !सर्वप्रथम दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का सुभारम्भ किया !इसके उपरांत कार्यक्रम में उपस्तिथ बड़ी संख्या में महिला पुरुषों को योग गुरु गोविंद सिंह बिष्ठ द्वारा योग का प्रशिषण दिया! इसके बाद वक्ताओं ने अपने विचार रखेंं !मैने अपने सम्बोधन में जहां अपने विषय मे तथा भारत के राष्ट्रीय महासंस्था भारतीय सर्व समाज द्वारा समाज हित मे कराये जा रहे जन कल्याणकारी कार्यक्रमों की जानकारी लोगों को दी ! आयोजकों का आभार भी व्यक्त किया कार्यक्रम का संचालन विकाश जिंदा है !संस्था की अध्यक्ष डा0 सुनीता शर्मा ने किया कार्यक्रम में मेरे द्वारा अन्य भी कई समाज सेवियों ,साधु संतों ,आदि को आयोजको द्वारा सम्मानित भी कराया गया! सभा मे मुख्यरूप से नेहरू युवा केन्द्र के डिप्टी डारेक्टर एसपी सिंह ,सुरेंद्र सिंह बिष्ठ ,निर्मता आचार्या मेडम ,सोलंकी सहित कई गणमान्य लोग उपस्तिथ थे!


स्वतंत्रता सेनानी की 28 वीं पुण्यतिथि

 स्वतंत्रता सेनानी स्वर्गीय लाला अतर सिंह अरोड़ा जी की 28 की पुण्यतिथि के अवसर पर दुर्गापुरी छज्जूपुर स्थित ब्राह्मण महासभा धर्मशाला में पुण्यतिथि का कार्यक्रम आयोजित किया गया! जिसका आयोजन श्री संदीप अरोड़ा ने किया! जिसमें भारत रक्षा मंच लोनी विधानसभा अध्यक्ष और सिद्ध पीठ महायोगी श्री गुरु गोरखनाथ मंदिर ट्रस्ट के महंत चंद्रपाल भगत और महामंत्री सनातनी संदीप गुप्ता शामिल हुए! जिसमें पुलकित महाराज के दर्शन करने का मौका मिला ! सर्व सम्मान संस्था द्वारा डॉ विजय कुंद्रा  के नेतृत्व में आंखों का निशुल्क शिविर भी लगाया गया! सैकड़ों लोगों के मेट्रो का निशुल्क जांच एवं परीक्षण किया गया!


पुलिस अधिकारी ने दिया मानवता का परिचय

पुलिस कर्मी ने दिया मानवता का परिचय


 सहारनपुर में इंस्पेक्टर परमवीर राणा आमजन से अभद्र व्यवहार करने पर चर्चित हैं


वहीं दूसरी ओर देवेंद्र कुमार सब इंस्पेक्टर हाल समय कार्यरत थाना कुतुब शेर सहारनपुर ने दियामानवता का परिचय
 सहारनपुर! एक महिला शबनम पत्नी सलीम निवासी हबीब गढ़ थाना क्षेत्र कुतुब शेर सहारनपुर अपनी पुत्री मुस्कान को सिविल अस्पताल सहारनपुर से रेफर किए जाने पर जोर जोर से रोने वह बिलबिला ने लगी बोली मेरे पास तो इतने पैसे भी नहीं है कि मैं अपनी बेटी का इलाज कहीं और कर पाऊंगी !किसी मामले की जांच में सिविल अस्पताल इमरजेंसी वार्ड में आए ! देवेंद्र कुमार सब स्पेक्टर थाना कुतुबशेर सहारनपुर यह देख वह सुन कर महिला को एक टक देखते हुए अपनी जेब से पर्स निकाल कर कुछ 500,500 के नोटों से महिला की मदद की! जहां जिला सहारनपुर में इंस्पेक्टर परमवीर राणा आमजन से अभद्र व्यवहार करने पर चर्चित है! वही देवेंद्र कुमार सब इंस्पेक्टर कुतुब शेर सहारनपुर के इस रवैए को देखकर सिविल अस्पताल में मौजूद आमजन ने पुलिस की बड़ी ही सराहना की वही दुखियारी बेटी की मां ने भी पुलिस को बड़ी बड़ी दुआएं दी !
रिपोर्ट= हाकिम अली 


लड़कियां हथियारों का इस्तेमाल करें:सरस्वती


रेप से बचने के लिए हथियार का इस्तेमाल करें लड़कियां-स्वामी अनादि सरस्वती।

राजस्थान के अजमेर जिले के ब्यावर कस्बे में उदयपुर रोड के किनारे झोंपडिय़ों में रहने वाले एक गरीब परिवार की सात वर्षीय मासूम बच्ची को रात के अंधेरे मे दो युवक उठा कर ले गए और सुनसान इलाके में ले जाकर गैंगरेप किया। बाद में जंगल में पटक कर भाग गए। अब इस बच्ची का ब्यावर के अस्पताल में इलाज चल रहा है। यह घटना 13 जून की रात की है। 15 जून को सभी अखबारों में खबर छपी है। ऐसी दरिंदगी की खबरें आए दिन अखबरों में प्रकाशित होती हैं। इन खबरों और घटनाओं से विचलित होते हुए ही चित्ती योग संस्था की प्रमुख स्वामी अनादि सरस्वती ने कहा कि आत्मरक्षा में हथियार हथने की शिक्षा तो गीता में भी दी गई है। सतयुग में भगवान कृष्ण ने जब प्रवचन दिए तब ऐसे कलयुग की कल्पना भी नहीं की थी, लेकिन तब भी भगवान कृष्ण का कहना रहा कि आत्मरक्षा और अपने स्वाभिमान को बचाने के लिए हथियार उठाना जायज है। जब हमारी बेटियों पर आए दिन अत्याचार हो रहे हैं तो बेटियों को हथियार उठाने ही चाहिए। साध्वी अनादि ने इस बात पर अफसोस जताया कि जिस देश में औरत को देवी के तौर पूजा जाता है, वहां ऐसी वारदातें हो रही हैं। अपराधियों को मां दुर्गा की ताकत का अहसास नहीं है। दुर्गा ने ही राक्षसों का नरसंहार किया था। शासन-प्रशासन की अपनी व्यवस्था है, लेकिन हमें ऐसा समाज बनाना चाहिए जो महिलाओं का सम्मान करें। बच्चियों के साथ बलात्कार के कृत्य तो बर्दाश्त नहीं किए जा सकते। लड़कियों को आत्मरक्षा के गुर सिखाने के लिए वे जल्द ही अजमेर के चित्ती योग संस्थान के लोहागल रोड स्थित आश्रम में एक शिविर लगाएंगी। समाज में जिस तरीके से अपराध बढ़ रहे हैं उसमें लड़कियों को आत्मरक्षा तो करनी ही पड़ेगी। इसको लेकर वे जागरुकता अभियान भी चलाएंगी। साध्वी ने कहा कि इस मुद्दे पर साधु संतों को भी आगे आना चाहिए। साधु संतों का काम भी समाज को बचाना है। आज समाज को भी खतरा है। अभियान से जुडऩे के लिए मोबाइल नम्बर 8003570999 पर साध्वी अनादि से संवाद किया जा सकता है।
एस.पी.मित्तल


राम का नहीं, डॉक्टरों का मुद्दा है


ममता जी! यह जय श्रीराम का नहीं, डॉक्टरों का मुद्दा है।
दादागिरी की तो पूरे देश को परिणाम भुगतने होंगे।

15 जून को भी देश भर में चिकित्सा व्यवस्था अस्त व्यस्त रही। पांच दिन पहले कोलकाता में एक जूनियर डॉक्टर के साथ अस्पताल में मारपीट करने के मामले में पहले पश्चिम बंगाल में डॉक्टरों की हड़ताल हुई तो धीरे धीरे पूरे देश में हड़ताल फैल रही है। इससे आम मरीज को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने यदि बिना शर्त माफी नहीं मांगी तो देश भर के एम्स अस्पतालों में 17 जून से बेमियादी हड़ताल शुरू हो जाएगी। असल में बंगाल के डॉक्टरों की हड़ताल को ममता ने गंभीरता के साथ नहीं लिया। हड़ताल खत्म करवाने के लिए ममता ने न केवल धमकी दी, बल्कि कहा कि मुस्लिम मरीज होने के कारण डॉक्टर हड़ताल कर रहे हैं। ममता का यह बयान पूरी तरह गैर जिम्मेदाराना था। असल में ममता ने पिछले दिनों जिस प्रकार जयश्रीराम के नारे लगाने वालों के साथ व्यवहार किया वैसा ही व्यवहार डॉक्टरों के साथ ही किया गया। सब जानते हैं कि जयश्रीराम के नारे लगाने वालों को जेल तक भिजवा दिया था। ममता का कहना रहा कि जय श्रीराम का नारा लगाने वालों को वे छोड़ेंगी नहीं। लेकिन इस बार ममता का पाला डॉक्टरों से पड़ा है। इसलिए जो हड़ताल बंगाल में हो रही थी, वो धीरे धीरे पूरे देश में फैल गई है। बंगाल में तो अराजकता का माहौल पहले से ही बना हुआ है। डॉक्टरों की हड़ताल ने आग में घी डालने का काम किया है। समझ में नहीं आता कि ममता बनर्जी कैसी राजनेता है? माहौल को देखकर निर्णय नहीं ले रही है। यह माना कि ममता की छवि एक जूझारू राजनेता की है, लेकिन हर मौके पर दादागिरी सफल नहीं होती है। लोकसभा चुनाव में मात्र 22 सीटे मिलने से ममता को अंदाजा लगा लेना चाहिए कि अब पश्चिम बंगाल में उनकी लोकप्रियता तेजी से घट रही है। पश्चिम बंगाल के सरकारी अस्पतालों में अधिकांश डॉक्टर बंगाल के ही रहने वाले हैं। जब डॉक्टरों का गुस्सा ममता के प्रति इतना है तो फिर ममता को धमकी नहीं देनी चाहिए। ममता जयश्रीराम नारा लगाने वालों को तो जेल में डाल सकती है, लेकिन डॉक्टरों का कुछ भी नहीं बिगाड़ सकती है। कल तक जो ममता बनर्जी धमकाने वाली भाषा बोल रही थी, वो ही ममता बनर्जी 15 जून को कोलकाता के अस्पताल में भर्ती घायल डॉक्टर से मिल रही हैं। अच्छा हो ममता बनर्जी माहौल को समझे और डॉक्टरों के साथ बैठकर मामले को सुलझाए। ममता को इस पूरे घटनाक्रम को साम्प्रदायिक रंग देने की जरुरत नहीं है। यदि डॉक्टरों को सुरक्षा की जरूरत है तो बंगाल सरकार को सुरक्षा उपलब्ध करवानी चाहिए। ममता को यह भी समझना चाहिए कि आबादी के हिसाब से डॉक्टरों की संख्या बहुत कम है। रेजीडेंट डॉक्टरों को 18 घंटे तक अस्पतालों में काम करना होता है। सरकारी अस्पताल रेजीडेंट डॉक्टरों के भरोसे ही चल रहे हैं। ऐसे में रेजीडेंट डॉक्टरों को सुरक्षा और सुविधाएं मिलनी ही चाहिए।


एस.पी.मित्तल


गहलोत ने प्रिंट मीडिया को बताया झूठा


सीएम अशोक गहलोत ने प्रिंट मीडिया की खबर को झूठा बताया।
25 करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्टस पर रोक 
 जयपुर ! प्रिंट मीडिया के सम्पादक और मालिक ईमानदार खबरों के लिए अक्सर अपनी पीठ थपथपाते हैं। अखबार की निष्पक्षता के लिए प्रथम पृष्ठ पर अग्रलेख लिखे जाते हैं। ऐसा लगता है कि पत्रकारिता की ईमानदारी का ठेका मीडिया के इन्हीं मालिकों ने ले रखा है। लेकिन 15 जून को राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने प्रिंट मीडिया की एक प्रमुख खबर को झूठा करार दिया है। 15 जून को ही प्रिंट मीडिया में खबर छपी कि वित्तीय संकट से गुजर रही है राजस्थान की कांग्रेस सरकार अब 25 करोड़ रुपए से ज्यादा की लागत वाले इन्फ्रास्टे्रक्चर प्रोजेक्टस को हाथ में नहीं लेगी। सरकार पहले ऐसे प्रोजेक्टस को पीपीपी मॉडल पर चला कर देखेगी। यानि 25 करोड़ की लागत वाले प्रोजेक्टस को सरकार मंजूरी नहीं देगी। प्रिंट मीडिया की खबर में कहा गया कि सरकार के इस फैसले के संबंध में मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने दिशा निर्देश भी जारी कर दिए हैं। लेकिन प्रिंट मीडिया की इस खबर को सीएम अशोक गहलोत ने झूठा बता दिया। 15 जून को दिल्ली में मीडिया से संवाद करते हुए कहा कि सरकार ने ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया है। सरकार 25 करोड़ रुपए से ज्यादा के प्रोजेक्टस पर काम करती रहेगी। गहलोत ने कहा कि पिछली भाजपा सरकार ने अंतिम दिनों में 12 हजार करोड़ के जो कार्यादेश जारी किए, उनका भुगतान भी अब हमारी सरकार कर रही है। वे राजनीतिक दुर्भावना से किसी प्रोजेक्टस को बंद नहीं कर रहे हैं। उन्होंने आज केन्द्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण से मुलाकात की और आग्रह किया कि राज्य को मिलने वाली राशि का भुगतान तुरंत करवाया जाए। गहलोत ने बताया कि पूर्व में कुल राशि का 75 प्रतिशत वित्तीय वर्ष के शुरू में ही मिल जाता था, लेकिन अब केन्द्र सरकार मात्र 25 प्रतिशत ही दे रही है जिससे राज्यों को भारी परेशानी हो रही है। गहलोत ने कहा कि केन्द्र को राज्यों की वित्तीय स्थिति का भी ख्याल रखना चाहिए।


एस.पी.मित्तल


राम के लिए भूमि अधिग्रहण,अधिसूचना जारी

अयोध्या में भगवान राम की मूर्ति के लिए 200 घरों का होगा अधिग्रहण, अधिसूचना जारी


 अयोध्या ! सरयू नदी के किनारे विश्व की सबसे ऊंची 221 मीटर की भगवान श्रीराम की विशालकाय मूर्ति स्थापित करने के लिए 200 घरों का अधिग्रहण किया जाना है। इसके लिए प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को अधिसूचना जारी कर दी है। अधिग्रहीत किये जाने वाले घर के मालिकों ने अधिक मुआवजा के लिए डीएम से मुलाकात की है।


222 लोगों की 29 हेक्टेयर अधिग्रहीत होगी जमीन
प्रस्तावित मूर्ति की स्थापना के लिए करीब 222 लोगों की 265 गाटा संख्या से 28.2864 हेक्टेयर भूमि क्रय की जानी है। सर्किल रेट के हिसाब से जमीन की कीमत 38 करोड़ 6 लाख आंकी गई है, लेकिन नियमानुसार ग्रामीण क्षेत्र की भूमि का मुआवजा सर्किल रेट से चार गुना और शहरी क्षेत्र की भूमि का मुआवजा सर्किल रेट से दोगुना देने की व्यवस्था है। श्रीराम की मूर्ति के लिए अधिग्रहण की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। कुल 28.2864 हेक्टयर भूमि अधिग्रहीत की जानी है। जमीन अधिग्रहण करने का नोटीफिकेशन आज जारी कर दिया गया है। भू स्वामी 20 जून तक कागजात के साथ अपना पक्ष कार्यालय आकर रख सकते हैं।


योगी सरकार ने विश्व की सबसे ऊंची 221 मीटर की भगवान श्रीराम की विशालकाय मूर्ति स्थापित करने की कवायद तेज कर दी है। सरकार ने श्रीराम की मूर्ति के लिए पहले ही 200 करोड़ का बजट स्वीकृत कर दिया है। रामनगरी में सरयू नदी किनारे रेलवे पुल के पास 222 लोगों की 28.2864 हेक्टयर भूमि ली जानी है। इसमें 66 भवन व 5 मदिरों के अधिग्रहण का भी प्रस्ताव है। सरकार इस मूर्ति को भव्यता प्रदान करने की पूरी तैयारी में है।


मूर्ति में 20 मीटर का होगा क्षत्र
रामनगरी में स्थापित होने जा रही यह प्रतिमा स्टेचू ऑफ यूनिटी से भी ऊंची होगी। स्टेचू ऑफ यूनिटी की ऊंचाई 182 मीटर है, जबकि प्रस्तावित भगवान श्रीराम की प्रतिमा की कुल ऊंचाई 221 मीटर होगी। इसका आधार 50 मीटर का होगा जिसके ऊपर 20 मीटर ऊंचा क्षत्र लगेगा। जिला प्रशासन जमीन अधिग्रहण कर रहा है लेकिन रामघाट के लोग जमीन अधिग्रहण का विरोध कर रहे हैं। उनका मानना है कि अगर जमीन का अधिग्रहण करना है तो सर्किल रेट से चार गुना मुआवजा और पुनर्वास के लिए अलग से जमीन दी जाए जिसके लिए प्रशासन मानने को तैयार नहीं है।


जिलाधिकारी से मिले रामघाट के निवासी
आज 100 से अधिक महिलाओं व पुरुषों ने जिलाधिकारी अनुज झा से मुलाकात करके अपनी 12 सूत्रीय मांग रखी। उनका कहना है कि पहले तो जमीन का अधिग्रहण न किया जाए लेकिन अगर अधिग्रहण किया जाना है तो उनकी मांगे मानी जाए। रामघाट के निवासियों की मांग है कि जमीन मालिकों को सर्किल रेट की दर से 4 गुना मुआवजा दिया जाए और पुनर्वास के j उन्हें अलग से जमीन उपलब्ध कराई जाए। यही नहीं पीड़ित परिवार के एक सदस्य को भगवान श्री राम की प्रतिमा से जुड़े हुए ड्रीम प्रोजेक्ट में योग्यता के अनुसार नौकरी भी दी जाए।


7 महा की बच्ची का पिता साली को लेकर भागा

पत्नी व सात माह की दुधमुंही बच्ची को छोड़ साली को ले भागा युवक,थाने में कार्यवाही ना होने से क्षुब्ध पत्नी पहुँची पुलिस अधीक्षक कार्यालय,पति के खिलाफ की कार्यवाही किये जाने की मांग


कोरबा ! जिस पत्नी के साथ सात फेरे लेकर मांग भरते समय सदा साथ निभाने की पति ने कसमें खाई थी।उसी पति ने शादी के महज 14 माह बाद साली को प्रेमजाल में फसाकर और फिर पत्नी सहित अपनी सात माह की दुधमुंही पुत्री को छोड़ साली को अपने साथ ले भागा।पत्नी ने थाना पहुँच शारीरिक मानसिक प्रताड़ना दिए जाने सहित पति के करतूत की लिखित शिकायत दर्ज कराई।जहाँ उसे न्यायालय जाने की सलाह दी गई।कार्यवाही ना होने से क्षुब्ध पत्नी ने एसपी कार्यालय पहुँच मामले की शिकायत कर पति के खिलाफ उचित कार्यवाही की मांग की है।


यह मामला है जिले के कटघोरा थानांतर्गत ग्राम गुरूमुड़ा (बांझीबन) का।जहाँ लक्ष्मी यादव पिता शिवटहल यादव 20 वर्ष का विवाह ग्राम नागोईखार(जमनीपाली) थाना दर्री निवासी अरविंद यादव पिता रामधारी यादव के साथ 20 फरवरी 2018 को सामाजिक रीति रिवाज के साथ संपन्न हुआ था।पीड़िता लक्ष्मी यादव द्वारा अपने शिकायत पत्र में उल्लेख किया गया है कि शादी के बाद एक पुत्री के जन्म उपरान्त पति द्वारा आए दिन गाली-गलौज व मारपीट किया जाता था।ढंग से खानेपीने को भी नही दिया जाता था।तथा रात में मारपीट कर घर से भी बाहर निकाल देता था।लगातार शारीरिक व मानसिक प्रताड़ना से तंग आकर पुत्री को लेकर अपने मायके आ गई।कुछ दिनों बाद पति भी मायके पहुँचा।तथा साथ मे रहने लगा।इस बीच मेरी सगी छोटी बहन शालिनी यादव 18 वर्ष को पति द्वारा अपने प्रेमजाल में फंसाकर तथा बहलाफुसला कर 20 मई 2019 को अपने साथ ले भागा।और अपने गृह निवास में साथ रखा है।उक्त बातों का उल्लेख कर महिला द्वारा गत 10 जून को कटघोरा थाना पहुँचकर पति द्वारा शारीरिक मानसिक प्रताड़ना व करतूतों की लिखित शिकायत पुलिस को दी गई।जहाँ 11 जून को पीड़िता का धारा 155 के तहत बयान कलमबद्ध कर न्यायालय जाने की सलाह दी गई।पुलिस द्वारा कार्यवाही ना किये जाने से क्षुब्ध महिला 14 जून को पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुँच शिकायतपत्र सौप उचित कार्यवाही की मांग की है।साथ ही महिला सेल प्रभारी को भी शिकायत सौपी गई है।जहां पीड़िता लक्ष्मी यादव का बयान कलमबद्ध किया गया है।


खनन माफियाओं के लिए गर्मी बनी वरदान

एक ही फार्म पर निकाली जा रही अलग अलग नंबर की गाड़ियां
गर्मी खनन माफियाओं के लिए बनी तोहफा


- अफसर नहीं निकल रहे ऑफिस से बाहर
- खनन माफियाओं की आई मौज
- जमकर हाे रही ओवरलाेडिंग और धांधलेबाजी



सहारनपुर। ''गर्मी'' आम आदमी के लिए भले ही परेशानी का कारण बन रही हो,  लेकिन खनन माफियाओं के लिए यह सौगात लेकर आई है। इसका बड़ा कारण यह है कि गर्मी में अफसर अपने दफ्तरों से बाहर नहीं निकल रहे और इसका सीधा फायदा खनन माफियाओं को मिल रहा है। खनन सामग्री के परिवहन में जमकर धाधलेबाजी की जा रही है और सरकार काे राजस्व का चूना लगाया जा रहा है।


इसका खुलासा हाल ही में सामने आए 'सी' फार्म में हुआ है। एक ही फार्म पर दाे-दाे ट्रक भरे गए हैं। यह घाैटाला सामने आने के बाद साफ हाे गया है कि सहारनपुर में एक ही 'सी' फार्म पर एक से अधिक वाहनाें में खनन सामग्री का परिवहन किया जा रहा है। यह खुलासा तब हुआ जब एक ही सीरीज के दाे फार्म पर अलग-अलग वाहनाें के नंबर मिले। यह खेल सामने आने के बाद खनन विभाग के अधिकारियाें की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हाे गए हैं।


 


क्या कहते हैं खनन अधिकारी


जिला खनन अधिकारी पंकज कुमार ने भी इस धांधली के सामने की पुष्टि की है। यह अलग बात है कि उन्हाेंने इस मामले काे लेकर कैमरे के सामने कुछ भी बाेलने से इंकार कर दिया लेकिन उन्हाेंने बातचीत में यह माना कि एक ही फार्म पर एक से अधिक वाहन से खनन सामग्री ढुलाई का करने की धांधली सामने आई है। पूछने पर उन्हाेंने बताया कि फिलहाल दाेनाें ही वाहनाें पर जुर्माना लगाया गया है और अन्य वाहनाें की जांच कराए जाएगी लेकिन बड़ा सवाल यह है कि यह कार्य कितने लंबे से किया जा रहा था और इससे कितना बड़ा नुकसान सरकार काे हाे रहा हाेगा ? इन सभी सवालाें के जवाब मिलने अभी बाकी हैं।


जानिए क्या है पूरा मामला, दरअसल क्रेशराें पर भंडारण उठान के लिए खनन विभाग की ओर से एक सी फार्म दिया जाता है। इस फार्म की तीन कॉपियां हाेती हैं। एक कॉपी खनन विभाग में रहती है। दूसरी कॉपी क्रेशर पर रहती है और तीसरी कॉपी वाहन के साथ रहती है। खनन विभाग से जुड़े सूत्राें के अऩुसार सहारनपुर में अब यह खेल चल रहा है कि जाे कॉपी क्रेशर के पास रहती है उस पर गाड़ी का नंबर नहीं डाला जाता और बाद में उसी कॉपी काे अन्य किसी दूसरे वाहनाें काे दे दिया जाता है। इस तरह एक ही फार्म पर दाे-दाे गाड़िया निकलवा दी जाती है।


खनन विभाग की कार्यप्रणली पर खड़े हुए सवाल


क्रेशराें काे भंडारण उठाने के लिए जारी किए फॉर्म काे लेकर खनन विभाग की नीयत पर भी सवाल खड़े हाे गए हैं। इसका बड़ा कारण यह है कि क्रेशराें काे बगैर उनके भंडारण चेक किए ही भंडार से संबंधित फार्म दे दिए गए हैं।न नियमाें के अनुसार किसी क्रशर काे उतने ही फॉर्म दिए जा सकते हैं जितना क्रेशर में भंडारण हाेगा लेकिन यहां सहारनपुर में खनन विभाग से बगैर भंडारण चेक किए ही फॉर्म बुक दे दी गई हैं। ऐसे में आशंका यह है कि जिन क्रेशराें के पास भंडारण नहीं है उन्हे भी वह फार्म मिल गए हैं और ऐसे में वह क्रेशर खुदाई करकेे भंडारण फार्म पर खनन सामग्री का परिवहन कर रहे हैं। जब इस बारे में खनन अधिकारी से बात की गई ताे उन्हाेंने यही कहा कि क्रशराें का भंडारण चेक किया गया है। जिन क्रेशराें का भंडारण चेक नहीं हुआ है उनका किया जा रहा है।


प्रेमी संग, पति को उतारा मौत के घाट

पति को लगा अवैध संबन्धों का पता तो पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर दी  खौफनाक मौत


देहरादून ! हर्रावाला निवासी रूपचंद ने आत्महत्या नहीं की थी, बल्कि उसका कत्ल किया गया था। डोईवाला पुलिस ने बुधवार को रूपचंद की पत्नी, उसके प्रेमी और दोस्त को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा कर दिया। पुलिस का दावा है कि अवैध संबंधों के ऐतराज करने पर पत्नी ने अपने प्रेमी और उसके दोस्त के साथ मिलकर रूपचंद की हत्या करने के बाद शव पंखे से लटका दिया था।


डोईवाला कोतवाली क्षेत्र के हर्रावाला निवासी रूपचंद (45) शैल ब्वायज स्कूल में चौकीदार था। 10 जून को रूपचंद के आत्महत्या करने की सूचना पुलिस को मिली थी। जांच के दौरान रूपचंद के गले में अलग अलग निशान के अलावा तकिए और कपड़ों पर खून मिलने पर हत्या की आशंका जताई गई थी। इसके बाद पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में संदेह को बल मिल गया।


एसपी देहात प्रमेंद्र डोभाल ने बताया कि विवेचना के दौरान रेणु की काल डिटेल में एक शख्स विनीत से लगातार बात होने का पता चला। शक के आधार पर पूछताछ की गई तो रेणु टूट गई। रेणु ने बताया कि उसने विनीत से दो साल पहले 35 हजार रुपये लिए थे। इसी लेनदेन के सिलसिले में एक दूसरे से मिलने पर दोनों में अवैध संबंध बन गए!


औद्योगिक इकाइयां पानी को बना रही जहरीला

गाजियाबाद,  लोनी ! क्षेत्र में बढ़ती प्रदूषण की समस्या पर किसी का ध्यान नही संवेधानिक व्यवस्था के पदों पर बैठे लोग उगाही में लगे हुए हैं! मंडोला विहार योजना में बहुत अधिक मात्रा में अनुपयोगी प्लास्टिक का कचरा गिराया हुआ है ! जिसमे रात के समय या दिन में ही आग लगा दी जाती है !जिससे निकला जहरीला धुंआ वातावरण में घुलकर साँस लेने में भी दिक्कत पैदा करता है! ऐसा भी सम्भव है कि किसी दिन इस धुंए की चपेट में आकर रात में सोते सोते ही दम घुटने से कई लोग अपनी जान गवां बैठे ।
बागपत जिले से आ रहे बरसाती नाले में भी औधोगिक इकाइयों से निकला जहरीला तेज़ाब युक्त पानी गिराया जा रहा है! जो गाजियाबाद जिले के कई गांव को प्रभावित कर रहा है! पानी की निकासी व्यवस्था न होने के कारण यह तेज़ाब युक्त पानी नाले व् आसपास के इलाके में भरा रहता है! जिसमे से जहरीली बदबूदार गैस निकलकर शुद्ध हवा को दूषित करती रहती है और जमीनी पानी भी जहरीला हो गया है ।
इन ज्वलन्त समस्याओ पर किसी के ध्यान न देने से ऐसा भी लगता है कि अधिकारी व् जनप्रतिनिधि किसी बड़ी दुर्घटना होने का इन्तजार कर रहे हैं ।


पुलिस फर्जी मुकदमें के मामले पर सख्त

 पुलिस फर्जी मुकदमे बाजी के मामलों पर सख्त


 मुजफ्फरनगर ! छपार थानाक्षेत्र के तेजल्हेड़ा में कल अंकित को गोली लगने की घटना का एसएसपी ओर एसपी सिटी ने खुलासा करते हुए घायल ओर उसके पिता पर ही मुकदमा दर्ज कर भेजा जेल ! उपरोक्त अंकित ओर उसका पिता धीर सिंह फर्जी घटना को दिखाकर अपनी पुरानी रंजिश निकालना चाहते थे!


वही मंडी थानाक्षेत्र में बचन सिंह कॉलोनी निवासी अंकुर द्वारा स्वयं को गोली मारकर एक अन्य व्यक्ति को झूठे मामले में फंसाने का पुलिस ने खुलासा करते हुए, आरोपी और घायल अंकुर को ही जेल भेज दिया है!


मुजफ्फरनगर पुलिस ने फर्जी मुकदमे लिखवाने वालों पर कार्रवाई कर एक बड़ा संदेश दिया है कि अब फर्जीवाड़ा बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और फर्जी मुकदमें लिखावाने वालों को ही जेल भेजा जाएगा।


सचिन जौहरी


नए सीएम भूपेन्द्र के मंत्रिमंडल गठन में साबित हुआ

अकांशु उपाध्याय     नई दिल्ली। भाजपा कहती है कि यह अनुशासनात्मक पार्टी है तो गुजरात में नये मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल के मंत्रिमंडल गठन में...