गुरुवार, 17 फ़रवरी 2022

एक ऐसी रहस्यमयी झील, जिसका पानी पीने से मौंत

एक ऐसी रहस्यमयी झील, जिसका पानी पीने से मौंत    

सरस्वती उपाध्याय          

ये दुनिया रहस्यों से भरी हुई है। दुनिया में हजारों की तादाद में झीलें मौजूद हैं। लेकिन इनमें से कुछ ऐसी हैं। जिनके रहस्य के बारे में आज तक इंसान नहीं जान पाया है। यह रहस्यमयी झील दक्षिण अफ्रीका के लिंपोपो राज्य में है। इसे लोग फुन्दूजी झील के नाम से जानते हैं। यह झील देखने में तो काफी सुंदर है और इसका पानी भी काफी साफ है। लेकिन जो इसका पानी एक बार पी ले। कहते हैं कि इसके बाद फिर मौत उसे अपने आगोश में ले लेती है।

बताया जाता है कि इस झील का निर्माण प्राचीन काल में भूस्खलन के कारण हुआ था, जिसने मुटाली नदी के प्रवाह को रोक दिया था। वहीं, अब तक यह एक रहस्य बना हुआ है कि ऐसा क्या है कि इसके पानी को पीने से मौत हो जाती है। झील के बारे में एक स्थानीय कहानी भी है। इसके मुताबिक, प्राचीन काल में इस जगह पर एक कोढ़ी व्यक्ति लंबा सफर करके आया था। उसके जब स्थानीय लोगों से खाना और रहने के लिए जगह मांगी, तो उसे यह नहीं दिया गया। इसके बाद उस कोढ़ी ने लोगों को श्राप दिया और झील में जाकर गायब हो गया।

कहा जाता है कि झील के अंदर से डूबे हुए लोगों के रोने और ड्रम बजने की आवाज आती रहती हैं। स्थानीय लोग यह भी कहते हैं कि इस झील की रक्षा पहाड़ों पर विशालकाय अजगर करता है। यह अजगर स्थानीय लोग को नुकसान न पहुंचाए, इसलिए उसे प्रसन्न करने के लिए हर साल यहां के लोग नृत्य उत्सव का आयोजन करतें हैं। इसमें कुंवारी लड़कियां डांस करती हैं।

'मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता' शिविर का आयोजन

'मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता' शिविर का आयोजन    

बृजेश केसरवानी        
प्रयागराज। जिला मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत  जनपद के नखास कोना स्थित पीर बाबा मजार पर चल रहे उर्स मेला में गुरुवार को मानसिक स्वास्थ्य जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया। ‘दुआ से दवा तक’ कार्यक्रम के तहत मजार पर आए हुए श्रद्धालुओं को मनोचिकित्सक डॉ. राकेश कुमार पासवान व नैदानिक मनोवैज्ञानिक डॉ. ईशान्या राज ने मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों के इलाज में दवाओं एवं मनोवैज्ञानिक थेरेपी की उपयोगिता बतायी। कार्यक्रम का उद्देश्य झाड़फूँक व अन्धविश्वास को दूर करना था।
अस्पताल परिसर में दवा, मनोवैज्ञानिक परीक्षण व मनोचिकित्सीय काउंसलिंग की नि:शुल्क व्यवस्था है।
मनोचिकित्सक डॉ राकेश कुमार पासवान ने श्रद्धालुओं से बातचीत में बताया कि मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां के मामले में इलाज संभव है। ऐसे मामलों में कई बार दवाओं का कोर्स थोड़ा लंबा चलता है। इलाज के कोर्स के पूरे होने पर मरीज पूरी तरह तरह स्वस्थ हो जाता है। कई बार अन्धविश्वाश के चक्कर में पड़कर मरीज अपने मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्या को और गंभीर बना लेता है। इसलिए मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी परेशानियों को न छिपायें  व झाड़-फूक नहीं बल्कि चिकित्सा का विकल्प चुनें।  
नैदानिक मनोवैज्ञानिक डॉ. ईशान्या राज ने कार्यक्रम के उद्देश्य पर अपनी बात रखते हुए बताया कि मानसिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों को हम व्यक्ति के मनोव्यवहार में आये बदलाव व मानसिक स्थिति में आये परिवर्तन के नजरिये से देखते हैं। उसी हिसाब से पीड़ित की मनोचिकित्सीय काउंसलिंग कर उसका इलाज शुरू करते हैं। बीते वर्षों में ऐसे कई मरीजों का उपचार व काउंसलिंग की गई। जो बाइपोलर मूड डिसऑर्डर, स्कित्सोफ़्रीनिया, एंजायटी डिसऑर्डर, सोमेटिक डिसऑर्डर आदि से पीड़ित थे। इनमें से ज़्यादातर लोग आज स्वस्थ जीवन जी रहे हैं।

यूके: 24 घंटे में कोरोना के 291 नए मामलें मिलें

यूके: 24 घंटे में कोरोना के 291 नए मामलें मिलें      

पंकज कपूर       

देहरादून। उत्तराखंड में वैश्विक महामारी कोविड-19 का प्रकोप बना हुआ है। पिछले 24 घंटे के दौरान प्रदेश के सभी 13 जनपदों में कोरोना वायरस के कुल 291 नये मामले सामने आए है। वहीं, प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 3 कोरोना संक्रमित मरीजों की उपचार के दौरान मौत हुई है।

गुरुवार को उत्तराखंड स्टेट कंट्रोल रूम देहरादून द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, राज्य में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के कुल 291 नए मामलें सामने आए है। जबकि राज्य में 1085 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए वहीं विभिन्न अस्पतालों में भर्ती 3 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत भी हुई। वही, दैनिक पॉजिटिविटी रेट की बात करें तो 01.90 फ़ीसदी पर पहुंच गई है।

विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरण किया: यूपी

विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरण किया: यूपी    

उज्जवल केसरवानी        
कौशाम्बी। मण्डलायुक्त प्रयागराज संजय गोयल द्वारा स्पोर्टस स्टेडियम में मतदाता जागरूकता के सम्बन्ध में आयोजित मैराथन फॉर वोट प्रतियोगिता में विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरण किया गया। मण्डलायुक्त द्वारा प्रतियोगिता में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले दुर्गेश कुमार को पुरस्कार स्वरूप पांच हजार रुपए प्रदान किया गया। इसी प्रकार द्वितीय स्थान प्राप्त करने वाले आदित्य कुमार को 2500 रुपए एवं तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले छोटकू सिंह को 1100 रुपए प्रदान किया गया तथा प्रतिभागी विनय कुमार, अखिल राज सिंह, संदीप कुमार, अश्वनी कुमार, उमेश कुमार, अवधेश कुमार एवं मोनू यादव को सांत्वना पुरस्कार के रूप में 500 रुपए प्रदान किया गया।
मण्डलायुक्त ने प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि मतदाता जागरूकता के सम्बन्ध में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन कर आगामी 27 फरवरी 2022 को ज्यादा से ज्यादा लोगों को मतदान करने के लिए जागरूक किया जा रहा है। इसी कड़ी में आज मैराथन फॉर वोट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया तथा इसी प्रकार के विभिन्न कार्यक्रम आगे भी आयोजित किये जाते रहेंगे। उन्होंने सभी प्रतिभागियों को बधाई देते हुए उनसे अपील की कि वे स्वयं मतदान करने के साथ ही अपने परिवार आस-पास एवं गांव के लोगों को लोकतन्त्र में मतदान के महत्व को बताते हुए मतदान करने के लिए जागरूक करें उन्होंने कहा कि हम लोग मतदान के माध्यम से जैसी सरकार चाहते हैं, वैसी सरकार चुनते हैं। उन्होंने कहा कि जितना अधिक मतदान होगा, उतना ही अधिक लोकतन्त्र मजबूत होगा। 
जिला निर्वाचन अधिकारी सुजीत कुमार एवं पुलिस अधीक्षक हेमराज मीना ने भी प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए स्वयं मतदान करने एवं अपने आस-पास के लोगों को भी मतदान करने के लिए जागरूक करने की अपेक्षा की इस अवसर पर नोडल अधिकारी स्वीप मुख्य विकास अधिकारी शशिकांत त्रिपाठी एवं जिला क्रीडा अधिकारी रूस्तम सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण व प्रतिभागीगण उपस्थित रहे।

एमएलसी चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज

एमएलसी चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज  

अविनाश श्रीवास्तव        

पटना। बिहार में एमएलसी चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मियां तेज हो गई हैं। राजद द्वारा एमएलसी चुनाव के लिए प्रत्याशियों की घोषणा किए जाने के बाद जहां कांग्रेस में राजद के प्रति नाराजगी देखी जा रही है। वहीं, राजद के एक पूर्व विधायक ने भी पार्टी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

मधुबनी सीट के लिए राजद की ओर से मेराज आलम को प्रत्याशी घोषित किए जाने के बाद यहां से पूर्व विधायक गुलाब यादव ने बगावती तेवर दिखाते हुए लालू प्रसाद और तेजस्वी यादव पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पूर्व विधायक गुलाब यादव ने इस सीट से अपनी पत्नी अंबिका गुलाब यादव को निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारने की घोषणा कर दी है।

एक्ट्रेस अबराम ने फिल्म इंडस्ट्री में 10 वर्ष पूरे कियें

एक्ट्रेस अबराम ने फिल्म इंडस्ट्री में 10 वर्ष पूरे कियें   

कविता गर्ग           

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस एली अबराम ने फिल्म इंडस्ट्री में अपने दस वर्ष पूरे कर लिये हैं। एली अवराम को भारत आए 10 वर्ष पूरे हो चुके हैं। एली अबराम के लिये फरवरी महीना बहुत ही खास है। एली अवराम इसी महीने में स्वीडन से भारत आई थी। एली ने कई सालो तक पैसे जमा किए जिससे वे अपने सपनो को पूरा करने के लिए भारत आ सकें। एली अबराम ने कहा, "मैं भारत आने के लिए पैसे जमा किया करती थी और यहां आकर अपने सपनो को पूरा करना चाहती थी, और अब वे सारे सपने धीरे धीरे साकार हो रहे हैं। 

मैं उन सभी लोगों की शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने मेरे इस 10 साल के सफर में मेरा साथ दिया। जो मेरे लिए फरिश्ते बनकर आए और मेरे अच्छे और बुरे समय में मेरे साथ खड़े रहे, मुझे ढेर सारा प्यार दिया। उन सारे निर्देशक , मेरे साथी जिन्होंने मुझे अपने साथ काम करने का अवसर दिया। दस साल का यह सफर बहुत ही उतार चढ़ाव से भरपूर रहा पर उम्मीदों ने साथ कभी नही छोड़ा। इस देश ने मुझे जीवन के कई मायनों को सिखाया और आगे बढ़ते रहने के लिए प्रोत्साहित किया है।" एली अवराम जल्द ही अमिताभ बच्चन के साथ गुड बॉय और टाइगर श्रॉफ के साथ गणपत में नजर आयेंगी। इसके अलावा एली दो और रीजनल फिल्म में भी नज़र आएंगी।

बीजेपी का संगठन, पूरी तरह से अराजनैतिक: टिकैत

बीजेपी का संगठन, पूरी तरह से अराजनैतिक: टिकैत   

भानु प्रताप उपाध्याय        

मुजफ्फरनगर। भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि 10 मार्च को होने वाली गिनती भाजपा की 15000 वोट से शुरू होगी।जबकि विपक्ष की गिनती जीरो से शुरू की जाएगी। उन्होंने कहा है कि फूल सभी को पसंद है और कोक्को भी फूल बहुत भाते हैं। इसलिए कोक्को बीजेपी की वोट लेकर कहां चली गई है। इस बात का पता तो 10 तारीख को ही लगेगा। बृहस्पतिवार को भारतीय किसान यूनियन की राजधानी सिसौली में आयोजित की गई भाकियू की मासिक पंचायत को संबोधित करते हुए संगठन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने एक बार फिर से बीजेपी को निशाने पर लेते हुए उसके ऊपर करारे हमले बोले और कहा कि वह अराजनैतिक है और उनका संगठन भी पूरी तरह से अराजनैतिक है। उन्होंने कहा है कि जिस तरह से सरकारी कर्मचारियों की वोट डली है, वह एक तरफा डाली गई है।

क्योंकि सरकार को ऐसे लोग प्रिय है जो उसे वोट देते हैं। जिन्होंने बीजेपी को वोट नहीं दिया है वह चाहे कुछ भी करें इससे सरकार को कोई सरोकार नहीं है। उन्होंने कहा कि अब किसान 14 दिन के भुगतान के लिए भी तैयार नहीं है क्योंकि आजकल डिजिटल इंडिया का जमाना है तो किसान को इसी डिजिटल इंडिया के तहत गन्ना डालते ही भुगतान मिल जाना चाहिए। राकेश टिकैत ने कहा है कि उत्तर प्रदेश एवं हरियाणा के भीतर बिजली की दरों के बीच 12 गुना अंतर है। सरकार जितनी एमएसपी पर खरीद करने के बाद कह रही है उसका एक लाख करोड़ रूपया कारोबारी की जेब में चला जाएगा। उन्होंने कहा है कि महंगी बिजली और कम दाम पर गन्ना बेचने वाला किसान अगर बीजेपी को वोट देना चाहता है तो हम क्या कर सकते हैं? भाकियू के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि इलेक्शन में कौन हारेगा और कौन जीतेगा? यह तो आने वाला समय ही बताएगा। 

लेकिन हमें तो अपना संगठन मजबूत बनाना है, यदि हमारा संगठन मजबूत रहता है तो फिर किसान को कोई परेशानी नहीं होगी। उन्होंने केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र मोनू को मिली जमानत पर कहा है कि सरकार की ओर से की गई लचर पैरवी की वजह से लखीमपुर कांड के मुख्य आरोपी को जमानत मिली है। पंचायत में काफी कम भीड़ जुटने के सवाल पर उनका कहना था कि हमने बहुत कम लोगों को बुलाया था। राकेश टिकैत ने कहा है कि भाजपा की सभाओं में भीड़ नहीं जुट रही है और यहां की फोटो वहां और वहां की फोटो यहां लगाकर प्रचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा है कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ से चार अंगुल ऊपर किसान लाठी रखेंगे, तभी वह बच पाएंगे।

तीसरे चरण का मतदान, मैदान में उतरेंगे मुलायम

तीसरे चरण का मतदान, मैदान में उतरेंगे मुलायम       

संदीप मिश्र       

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में दो चरणों का चुनाव हो चुका है और अब तीसरे चरण का मतदान होने जा रहा है। मगर इससे पहले चुनावी संग्राम और तेज हो गया है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश से शुरू हुआ, यह सियासी संग्राम अब पूर्वांचल की ओर बढ़ चला है। पूर्वांचल में आजमगढ़ की करहल विधानसभा सीट जहां से इस बार अखिलेश यादव चुनाव लड़ रहे हैं। बेहद ही हॉट सीट बन चुकी है। इसे लेकर अब खबर ये है कि बेटे की जीत सुनिश्चित करने के लिए समाजवादी पार्टी के पूर्व मुखिया एवं वर्तमान में संरक्षक मुलायम सिंह यादव इस चुनाव में पहली बार मैदान में उतरेंगे।

सपा संरक्षक और मैनपुरी से सांसद मुलायम सिंह यादव इस चुनाव में पहली बार चुनावी रैली में नजर आएंगे। मुलायम सिंह यादव आज सपा प्रमुख अखिलेश यादव के चुनाव क्षेत्र करहल में जनसभा को संबोधित करेंगे। इस रैली में अखिलेश यादव भी मौजूद रहेंगे। इसके पहले सपा प्रमुख अखिलेश यादव आज ही फिरोजाबाद और मैनपुरी में भी अलग- अलग जगह आठ चुनावी रैलियां करेंगे। दोपहर बाद वो अपने चुनाव क्षेत्र करहल में भी पिता मुलायम सिंह यादव के साथ जनसभा को संबोधित करेंगे।

झारखंड: परीक्षा-2021 का संशोधित रिजल्‍ट जारी

झारखंड: परीक्षा-2021 का संशोधित रिजल्‍ट जारी     

इकबाल अंसारी     

रांची। झारखंड लोक सेवा आयोग ने झारखंड संयुक्त असैनिक सेवा प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा-2021 का संशोधित रिजल्‍ट जारी कर दिया है। हाई कोर्ट के निर्देश के आलोक में इसे जारी किया गया है। इसके मुताबिक 4885 अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा में सम्मिलित होंगे।

आयोग ने रिजल्‍ट जारी करते हुए कहा है कि झारखंड संयुक्त असैनिक सेवा प्रतियोगिता परीक्षा-2021 राज्य के 24 जिलों के 1102 परीक्षा केन्द्रों में 19 सितंबर, 2021 को हुई थी। ओएमआर उत्तर पत्रकों के स्कैनिंग एवं मूल्यांकन के बाद 1 नवंबर, 2021 को आयोग की वेबसाईट पर उक्त परीक्षा में औपबंधिक रूप से सफल अभ्यर्थियों का परीक्षाफल प्रकाशित किया गया।

आयोग ने कहा कि इसके बाद अनेक अभ्यर्थियों द्वारा झारखंड उच्च न्यायालय में विभिन्न रिट याचिकाएं दाखिल की गई। उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश के बाद आयोग द्वारा 4885 अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए संशोधित परीक्षाफल औपबंधिक रूप से प्रकाशित किया गया है।

गोवा में पहला अल्‍कोहल म्‍यूज‍ियम स्‍थाप‍ित क‍िया

गोवा में शुरू हुआ अल्‍कोहल म्‍यूज‍ियम का नाम ‘ऑल अबाउट अल्कोहल’ रखा गया है। इस म्‍यूज‍ियम की स्‍थापना उत्तरी गोवा के कैंडोलिम गांव में स्थानीय व्यवसायी नंदन कुडचडकर ने की है। ऑल अबाउट म्यूजियम में फेनी से जुड़ी सैकड़ों कलाकृतियां हैं, जिनमें बड़े, पारंपरिक कांच के बर्तन शामिल हैं। इनमें सदियों पहले स्थानीय काजू-आधारित शराब (फेनी) जमा की गई थी। वहीं इस संग्रहालय में सैनिकों के बर्तनों और लकड़ी के पात्र को भी दिखाया गया है। यहीं ऑस्ट्रेलियाई बीयर गिलास के साथ विश्व की दुर्लभ चीजों को भी प्रदर्शित किया गया है।

इस म्‍यूज‍ियम में काजू की फेनी की विशिष्ट और समृद्ध परंपरा को दर्शाया गया है। यहां फेनी के अतीत और वर्तमान की एक झलक भी मिलती है। जबक‍ि यहां पर शराब के शौकीनों के लिए दुनिया की बेहतरीन शराब के साथ गोवा की मशहूर फैनी भी रखी गई है। इस म्यूजियम में काजू के फलों के फर्मेंटेशन से कैसे फेनी तैयार की जाती है। इसका भी इतिहास बताया गया है। यहां पर्यटकों को काजू की फेनी का स्वाद भी चखने को दिया जाता है। देश का पहला अल्‍कोहल म्‍यूज‍ियम पणजी से लगभग 10 किमी दूर उत्तरी गोवा के समुद्री तट सिंक्वेरिम और कैंडोलिम के पर्यटन केंद्र को जोड़ने वाले स्थान पर स्थित है। म्‍यूज‍ियम 13 हजार वर्ग फुट में फैला हुआ है। इसके अंदर चार कमरों में एग्जीबीशन के लिए पुराने मिट्टी के बर्तन रखे गए हैं। वहीं 16 वीं शताब्दी के माप उपकरण भी हैं, जो फेनी देते समय इस्तेमाल किए जाते थे। इसके अलावा एक प्राचीन लकड़ी का शॉट डिस्पेंसर भी मौजूद है। असल में संग्रहालय शुरू करने वाले नंदन कुडचडकर प्राचीन वस्तुओं के संग्रहकर्ता भी हैं।

रिलायंस जियो ने शानदार प्रीपेड प्लान जारी कियें

रिलायंस जियो ने शानदार प्रीपेड प्लान जारी कियें    

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। रिलायंस जियो ने अपने यूजर्स के लिए सस्ते और शानदार प्रीपेड प्लान जारी किये हैं। अगर आप ज्यादा डेटा के साथ लंबी वैलिडिटी वाले रिचार्ज प्लान की तलाश में हैं तो हम बता रहे हैं कि जियो का कौन सा रिचार्ज प्लान आपको किफायती पड़ेगा।

वैलिडिटी वाले रिचार्ज प्लान में आपको 90जीबी डेटा मिलता है। इस प्लान में रोजाना 3.5 जीबी डेटा का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा सभी बेनिफिटिस (कॉलिंग, एसएमसएस, जियो ऐप्स) भी मिलेंगे। इसके साथ ही  का सब्सक्रिप्शन भी दिया जा रहा है। साथ रोजाना 100 एसएमएस भी मिलेंगे। इसके साथ ही डेली 100 फ्री एसएमएस ऑफर कर रहा है।

भारत में एसयूवी डस्टर का उत्पादन रोका, फैसला

भारत में एसयूवी डस्टर का उत्पादन रोका, फैसला  

अकांशु उपाध्याय   

नई दिल्ली। भारत में इन दिनों एसयूवी मॉडल की जबरदस्त डिमांड है और इनके बीच किसी कार के प्रोडक्शन का बंद हो जाना थोड़ा अजीब हो सकता है। खैर, कार का निर्माण ना करने के पीछे कई वजह हो सकती हैं। फिलहाल रेनो द्वारा डस्टर के प्रोडक्शन को बंद करने का फैसला इन दिनों चर्चा में है। लगभग एक दशक के बाद रिनोल्ट ने भारत में अपनी सबसे सफल एसयूवी डस्टर का उत्पादन रोकने का फैसला किया है।

डस्टर जुलाई 2012 से चेन्नई के श्रीपेरंबुदूर में अपनी विनिर्माण सुविधा में निरंतर उत्पादन में थी, और इस कार के बाद कंपनी ने भारतीय लाइनअप में अब केवल तीन कारें क्विड, ट्राइबर और किगर लॉन्च की है। आपको याद होगा कि डस्टर भारत में रेनॉल्ट का पहला मास-मार्केट प्रोडक्ट है, इसके साथ ही डस्टर इस सेगमेंट की सबसे पहली एसयूवी भी थी। जिसमें बाद में हुंडई क्रेटा और किआ सेल्टोस जैसी एसयूवी को जोड़ा गया।

जैसा कि हमनें ऊपर बताया कि डस्टर जुलाई 2012 में पहली बार भारत आया और तुरंत हिट साबित भी हुआ। इस कार में लॉन्च के समय तीन इंजन विकल्प 1.6-लीटर पेट्रोल, एक 1.5-लीटर डीजल और एक 1.5-लीटर डीजल इंजन शामिल है। वहीं, ये सभी पावरट्रेन स्टैंडर्ड रूप में मैन्युअल गियरबॉक्स के साथ बिक्री पर थे। साल 2014 में 1 लाख इकाइयों की बिक्री के आंकडें को पार करने के बाद, रेनॉल्ट डस्टर को उसी वर्ष एक एडब्ल्यूडी वर्जन के साथ उतारा गया। इस प्रकार के फीचर से लैस यह सबसे किफायती मोनोकॉक एसयूवी थी।

एंड्रायड फोन की कीमत कम, इंटरनेट महंगा हुआ

एंड्रायड फोन की कीमत कम, इंटरनेट महंगा हुआ   

अकांशु उपाध्याय        

नई दिल्ली। मोबाइल इंटरनेट का उपयोग आसमान छू रहा है। एंड्रायड फोन की कीमत कम होने की वजह से इंटरनेट चलाने वालों की संख्या में लगातार बढ़ रही है। कोरोना वायरस के आने के बाद से घर बैठे शॉपिंग, पढ़ाई और वर्क फ्रॉम होम करने वाले बढ़ रहे हैं। देखा जाए तो 1 दिसंबर 2021 के बाद से डाटा प्लान्स इतने महंगे हो गए हैं कि अगर जल्दी डाटा खत्म हो जाए तो और ज्यादा जेब ढीली करनी पड़ती है।

ऐसे में सबके मन में ये सवाल जरूर खड़ा होता है की डाटा को कैसे बचाया जाए। अब आपकी भी ये टेंशन है तो हम इसको खत्म करने वाले हैं, हम आपको बता रहे हैं आपके फोन में मौजदू कुछ सेटिंग्स के बारे में जिसके जरिए आप डेटा की खपत को कम कर सकते हैं। आइए जानते हैं इस ट्रिक्स के बारे में।डाटा सेवर मोड का इस्तेमाल करें। इस फीचर का इस्तेमाल आप ज्यादा डाटा खपत को कम करने के लिए भी कर सकते हैं।फोन में डाटा सेट करना भी एक अच्छा ऑप्शन है। इसके लिए आपको अपनी सेटिंग में जाना होगा। फिर डाटा यूसेज ऑप्शन पर टैप करना होगा। इसके बाद बिलिंग साइकल में जाना होगा। 

इस विकल्प के बाद आपको डाटा लिमिट और बिलिंग साइकल पर जाना होगा। यहां से आप डाटा लिमिट सेट कर सकते हैं। यह करने से आपके फोन में उस लिमिट के बाद डाटा चलना बंद हो जाएगा। उन ऐप्स का इस्तेमाल थोड़ा कम करें जो ज्यादा डाटा खपत करते हैं। साथ ही इस तरह की ऐप्स भी कम इस्तेमाल करनी चाहिए जिनमें ज्यादा ऐड आते हैं। अगर आपने अपने फोन में ऐप्स को अपडेट करने के लिए मोबाइल डाटा का इस्तेमाल किया हुई है तो आपको उस सेटिंग को चेंज करना होगा। इसके लिए आपको। को सेलेक्ट करना होगा। ऐसा करने से आपके फोन की ऐप्स सिर्फ वाई-फाई पर ही अपडेट होंगी।

सर्फ-साबुन के दाम में 10 फीसदी तक बढ़ोतरी की

सर्फ-साबुन के दाम में 10 फीसदी तक बढ़ोतरी की   

अकांशु उपाध्याय      
नई दिल्ली। देश में कई साल के अंतराल के बाद एक बार फिर से महंगाई लोगों को सता रही है। खुदरा महंगाई जनवरी में 7 महीने के उच्च स्तर पर पहुंच गई और रिजर्व बैंक के लक्ष्य के दायरे से बाहर निकल गई। थोक महंगाई कई महीने से 10 फीसदी से ज्यादा है। इस बीच सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनियों में से एक हिंदुस्तान यूनिलीवर ने इस साल दूसरी बार साबुन और सर्फ की कीमतें बढ़ा दी है। इसके बाद अन्य कंपनियां भी अपने सर्फ-साबुन के दाम बढ़ा सकती हैं। हिंदुस्तान यूनिलीवर ने इस महीने सर्फ और साबुन के दाम में 3 से 10 फीसदी तक की बढ़ोतरी की है। कंपनी जनवरी में भी सर्फ-साबुन के दाम बढ़ा चुकी है। हिंदुस्तान यूनिलीवर लक्स, रेक्सोना, पॉन्ड्स, सर्फ एक्सल, विम बार जैसे लोकप्रिय उत्पाद बेचती है, जिनका इस्तेमाल घर-घर में किया जाता है। 
इस महीने लक्स, रेक्सोना, पॉन्ड्स और सर्फ एक्सल के दाम बढ़ाए गए हैं। एक्सीक्यूटिव डाइरेक्टर अवनीश रॉय ने कहा, हमारे चैनल चेक से पता चलता है कि सर्फ एक्सल ईजी वॉश, सर्फ एक्सल क्विक वॉश, विम बार एंड लिक्विड, लक्स, रेक्सोना, पॉन्ड्स पावडर समेत कई उत्पादों के दाम बढ़ा चुकी है। कंपनी ने पिछले महीने व्हील डिटर्जेंट, पीयर्स साबुन और सर्फ एक्सल के दाम बढ़ाए थे। सर्फ एक्सल के दाम इस बार भी बढ़ाए गए हैं।

युवक के गुप्तांग में पाइप डालकर हवा भरीं, गंभीर

युवक के गुप्तांग में पाइप डालकर हवा भरीं, गंभीर    

राणा ओबरॉय               
पानीपत। हरियाणा के पानीपत से रूह कंपा देने वाला मामला सामने आया है। फैक्ट्री में साथ काम करने वाले लड़कों ने युवक के गुप्तांग में पाइप डालकर हवा भर दी। इससे पहले युवक के साथ जमकर मारपीट की गई। युवक की हालत गंभीर बताई जा रही है। पुलिस ने 307 के तहत मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है।
पानीपत के पुराना औद्योगिक थाना अंतर्गत गंगाराम कॉलोनी निवासी श्रमिक युवक के साथ काम करने वाले कुछ युवकों ने उसकी गुप्तांग में हवा भरने वाला पाइप डालकर हवा भर दी। इसके चलते व्यक्ति गंभीर रूप से जख्मी हो गया। परिजनों ने उसे उपचार के लिए एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया है, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। 
वहीं, पुलिस ने आरोपी युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जानकारी के मुताबिक गंगाराम कॉलोनी निवासी पवन पुत्र प्रेम सिंह कच्चा काबड़ी फाटक स्थित एक वूलन फैक्ट्री में काम करता है। आरोप है कि उसके साथ काम करने वाले दो तीन युवकों ने पहले तो उसके साथ मारपीट की और फिर उसकी गुप्तांग में पाइप डालकर हवा भर दी।
पीड़ित के पिता ने बताया कि फैक्ट्री में ही काम करने वाले दो तीन युवक उसे घायल अवस्था में घर छोड़ गए। इसके बाद उन्होंने पीड़ित युवक को अस्पताल में भर्ती कराया। अस्पताल के डॉ जसबीर मलिक ने बताया कि पीड़ित युवक की बड़ी आंत फट गई, जिसके बाद उसका ऑपरेशन किया गया है फिलहाल पीड़ित की हालत गंभीर बनी हुई है।
इस मामले जांच अधिकारी राम प्रसाद ने बताया कि इस मामले में आईपीसी की धारा 307 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

'जलवायु परिवर्तन' की वजह से समुद्री जलस्तर बढ़ा

'जलवायु परिवर्तन' की वजह से समुद्री जलस्तर बढ़ा    

अखिलेश पांडेय     

वाशिंगटन डीसी। धरती पर जलवायु परिवर्तन लगातार हो रहा है। उसका दुष्प्रभाव भी पड़ रहा है। यह खुलासा किया है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा और नेशनल ओशिएनिक एंड एटमॉस्फियरिक एडमिनिस्ट्रेशन ने मिलकर। इन दोनों वैज्ञानिक संस्थानों का दावा है कि साल 2050 तक यानी अब से 28 साल बाद दुनिया भर के समुद्रों का जलस्तर ऐतिहासिक तौर पर बढ़ जाएगा। यह करीब एक फीट बढ़ेगा।

यह रिपोर्ट तैयार की है सी-लेवल राइज टास्क फोर्स ने। यह टास्क फोर्स नासा और एनओए के वैज्ञानिकों का समूह है। इस समूह ने अध्ययन करके यह पता लगाया है कि साल 2050 तक दुनिया भर के समुद्रों का जलस्तर अभी से 10 से 12 इंच बढ़ जाएगा। यानी इस 28 साल के अंदर जो जलस्तर बढ़ेगा, उतना पिछले 100 सालों में कभी नहीं बढ़ा। एनओएए के एडमिनिस्ट्रेटर रिच स्पिनरैड ने कहा कि यह अमेरिका और उसके आसपास के इलाकों का सबसे सटीक आकलन है। यह सबसे अप-टू-डेट स्टडी है। इसमें लंबे समय के लिए समुद्री जलस्तर के बढ़ने का अध्ययन किया गया है। हमने जो स्टडी की है वह ऐतिहासिक है।
नासा एडमिनिस्ट्रेटर बिल नेल्सन ने कहा कि इस मामले में वैज्ञानिक और स्टडी को लेकर उपयोग किया गया विज्ञान पूरी तरह से स्पष्ट हो चुका है कि समुद्री जलस्तर 1 फीट बढ़ने वाला है। यह समय है सही एक्शन लेने का। अगर समय पर सही एक्शन नहीं लिया गया तो पूरी दुनिया को भारी तबाही का मंजर देखना होगा। क्योंकि यह पिछले 20 सालों की स्टडी का नतीजा है। इंसानों की गलतियों का नतीजा है। यह इंसानी व्यवहार ही है जिसने क्लाइमेट चेंज को पैदा किया है।
बिल नेल्सन ने कहा कि लोगों और देशों की सरकारों को यह मानना होगा कि यह रिपोर्ट दुनिया भर की अन्य रिपोर्ट से मिलती है। यानी हर किसी की गणना सही है। समुद्री जलस्तर पूरी दुनिया में तेजी से बढ़ रहा है। जिससे तटीय इलाकों में रहने वाले समुदायों के लिए आफत दरवाजे पर खड़ी है। वो किसी भी समय इस आफत का सामना कर सकते हैं। जलवायु परिवर्तन की वजह से समुद्री जलस्तर बढ़ रहा है।
नेल्सन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से समुद्री सतह का तापमान लगातार बढ़ रहा है। ग्लेशियर पिघल रहे हैं। पिघलते हुए ग्लेशियरों से निकला हुआ पानी समुद्री जलस्तर को बढ़ा रहा है। अगर हमने वायुमंडल को ठंडा रखने का प्रयास शुरु नहीं किया तो धरती पर बड़ी मुसीबत आ जाएगी। सैकड़ों भयावह तूफान बेमौसम भी आ सकते हैं। नेल्सन ने कहा कि जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से समुद्री सतह का तापमान लगातार बढ़ रहा है। ग्लेशियर पिघल रहे हैं। पिघलते हुए ग्लेशियरों से निकला हुआ पानी समुद्री जलस्तर को बढ़ा रहा है। अगर हमने वायुमंडल को ठंडा रखने का प्रयास शुरु नहीं किया तो धरती पर बड़ी मुसीबत आ जाएगी। सैकड़ों भयावह तूफान बेमौसम भी आ सकते हैं।
यह नई रिपोर्ट साल 2017 में आई रिपोर्ट का अपडेट है। साल 2017 की रिपोर्ट में भी यही भविष्यवाणी थी कि साल 2150 तक पूरी दुनिया का बड़ा हिस्सा समुद्र में डूब जाएगा। लेकिन नई रिपोर्ट ने बताया है कि अगले 30 साल के अंदर ही समुद्री जलस्तर काफी तेजी से बढ़ेगा। जिसका असर दशकों तक रहेगा।
कैलिफोर्निया स्थित नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी ने एक बयान में कहा कि अमेरिका में संघीय संस्थाएं, राज्य और स्थानीय स्तर की संस्थाएं इस रिपोर्ट के आधार पर काम करना शुरु करें। क्योंकि बढ़ते हुए समुद्री जलस्तर से निपटने के लिए नई तैयारी करनी होगी। उसे रोकने का प्रयास करना होगा।
बिल नेल्सन ने कहा कि अगले एक दशक में नासा पांच बड़े स्तर की ऑब्जरवेटरी बनाने जा रही है, जो वायुमंडल, बर्फ, ग्लेशियर, जमीन और समुद्री जलस्तर की सटीक जानकारी देंगे। नासा एक नया मिशन नवंबर में लॉन्च करने जा रहा है। इसका नाम है सरफेस वॉटर एंड ओशन टोपोग्राफी यह झीलों, नदियों, नहरों और समुद्रों का एलिवेशन लेवल बताएगा। इस सैटेलाइट को SpaceX के फॉल्कन-9 रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा।
नेल्सन ने कहा कि अमेरिका और दुनिया की अन्य वैज्ञानिक एजेंसियां, टास्क फोर्स और राष्ट्रपति की खास टीम इस डेटा के आधार पर काम करने के लिए तैयार है। वो दुनिया को सुरक्षित रखने के लिए तैयारी कर रहे हैं। राष्ट्रपति जो बाइडेन और उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस  ने इस रिपोर्ट को बेहद गंभीरता से लिया है। वो हमारे साथ मिलकर समुद्री जलस्तर को बढ़ने से रोकने में काम करने को तैयार हैं।
हाल ही में विश्व मौसम विज्ञान संगठन चेतावनी दी थी कि भारत दक्षिण-पूर्व में स्थित हिंद महासागर और उसके बगल स्थित दक्षिण-पश्चिम प्रशांत महासागर का तापमान दुनिया के बाकी समुद्रों की तुलना में तीन गुना ज्यादा तेजी से बढ़ रहा है। इसकी वजह से भारत के दक्षिण-पूर्वी तटीय इलाके, दक्षिण-पूर्व एशिया और दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया के कई इलाकों जलमग्न होने का खतरा मंडरा रहा है।
WMO ने कहा कि दक्षिण-पश्चिम प्रशांत दक्षिण-पूर्व हिंद महासागर और ऑस्ट्रेलिया के निचले इलाके के सागरों की सतह का तापमान में ज्यादा बढ़ोतरी हो रही है। समुद्री हीटवेव की वजह से कोरल रीफ को नुकसान हो रहा है। समुद्री इकोसिस्टम खराब हो रहा है। दक्षिण-पूर्व एशिया और प्रशांत महासागर में स्थित स्माल आइलैंड डेवलपिंग स्टेट्स की जमीन पर आए दिन बाढ़, तूफान की वजह से नुकसान होता है। मौतें होती हैं। विस्थापन होता है। इसके अलावा गर्म तापमान की वजह से ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में आग लग जाती है। आशंका है कि अगले पांच साल में हिमालय और एंडीज में मौजूद ग्लेशियर पिघल जाएंगे।
WMO द्वारा जारी 'द स्टेट ऑफ द क्लाइमेट इन द साउथ-वेस्ट पैसिपिक 2020' में साफ तौर पर इस इलाके में आने वाली आपदाएं, बढ़ते तापमान, समुद्री जलस्तर के बढ़ने, समुद्री गर्मी और अम्लीयता का खाका खींचा गया है। साथ ही ये भी बताया गया है कि इसकी वजह से ब्रुनेई, दारुसलाम, इंडोनेशिया, मलेशिया, फिलिपींस, सिंगापुर, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड और पैसिफिक आइलैंड्स में क्या खतरा है। किस तरह के आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय नुकसान होगा। इसमें भारत का नाम नहीं होने से ये मत सोचिए कि भारत के तटीय इलाकों में असर नहीं होगा। जरूर होगा। क्योंकि दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों पर किसी भी तरह का पर्यावरणीय असर होने पर सीधा प्रभाव भारत पर पड़ता है।
इस रिपोर्ट के मुताबिक यह चेतावनी दी गई है कि धरती और समुद्र का औसत तापमान 2 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ने से पहले इन देशों को सख्त कदम उठाने होंगे। WMO के महासचिव प्रोफेसर पेटेरी तालस ने कहा कि इस रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत के दक्षिण-पूर्व हिंद महासागर, दक्षिण-पूर्व एशियाई देश और ऑस्ट्रेलिया के आसपास का इलाका समुद्री मौसम के अधीन है। अगर समुद्री सर्कुलेशन, तापमान, अम्लयीता, ऑक्सीजन के स्तर और समुद्री जलस्तर में अंतर आता है, तो उसका भयानक नुकसान इन समुद्री इलाकों के देशों को होगा। जैसे- मछली पालन, एक्वाकल्चर और पर्यटन। समुद्री के गर्म होने की वजह से आने वाले चक्रवातों से तटीय इलाकों में भी भारी नुकसान होता है।
प्रो. पेटेरी तालस ने कहा कि कोविड-19 महामारी ने दक्षिण-पूर्व एशिया और ओशिएनिया इलाकों के सामाजिक-आर्थिक विकास को बाधित किया है। अलग-अलग डेटा के अनुसार दक्षिण-पश्चिम प्रशांत साल 2020 में दूसरा या तीसरा सबसे गर्म साल था। साल 2020 के दूसरे हिस्से में सर्द ला नीना की वजह से साल 2021 में तापमान में भारी विभिन्नता आएगी। धरती के जलवायु प्रणाली में समुद्री सतह का तापमान भारी योगदान करता है। अल नीनो/ला नीना और इंसानी गतिविधियों की वजह से होने वाले जलवायु परिवर्तन से दक्षिण-पश्चिम प्रशांत के मौसम में काफी ज्यादा बदलाव आया है। साल 1982 से 2020 तक तासमान सागर और तीमोर सागर का तापमान वैश्विक औसत से तीन गुना ज्यादा रहा है। 
इंसानी गतिविधियों से पैदा होने वाली गर्मी का 90 फीसदी हिस्सा समुद्र सोख लेते हैं। साल 1993 से अब तक समुद्री गर्मी में दोगुने का इजाफा हुआ है। इस सदी के अंत तक समुद्री गर्मी और बढ़ेगी। दक्षिण-पश्चिम प्रशांत इलाके में समुद्री गर्मी दुनिया के औसत तापमान से तीन गुना ज्यादा बढ़ा है। फरवरी 2020 में ऑस्ट्रेलिया के ग्रेट बैरियर रीफ में भयानक हीटवेव आया था। इस इलाके में समुद्री सतह का तापमान 1961-1990 की औसत गर्मी से 1.2 डिग्री सेल्सियस ज्यादा था। यानी 1961 से लेकर पिछले साल तक फरवरी का महीना सबसे ज्यादा गर्म था। ज्यादा गर्मी की वजह से कोरल रीफ की हालत खराब हो गई। काफी मात्रा में ब्लीचिंग होते देखा गया। पिछले पांच साल में यह तीसरा सबसे बड़ा ब्लीचिंग इवेंट था।
यह रिपोर्ट बताती है कि अगर अगले कुछ दशकों में औसत तापमान में 2 डिग्री सेल्सियस का इजाफा होता है तो कोरल ट्राएंगल में मौजूद कोरल रीफ और ग्रेट बैरियर रीफ का 90 फीसदी हिस्सा बर्बाद हो जाएगा। समुद्री गर्मी का बढ़ना, ऑक्सीजन की कमी, अम्लीयता, समुद्रों का बदलता सर्कुलेशन पैटर्न और रसायन लगातार बदल रहा है। मछलियां और जूप्लैंक्टॉन्स समुद्र के अंदर ही ऊंचाई वाले स्थानों की ओर विस्थापित हो रहे हैं। उनका व्यवहार भी बदल रहा है। इसकी वजह से मछली पालन पर भयावह असर पड़ रहा है। इससे प्रशांत महासागर के द्वीपों पर होने वाले तटीय मछली पालन पर असर पड़ेगा। इससे पोषक तत्वों में कमी, कल्याण, संस्कृति और रोजगार पर नकारात्मक असर पड़ेगा।
1990 से 2018 तक वानुआतु में मछली पालन 75 फीसदी, टोंगा में 23 फीसदी और न्यू कैलिडोनिया में 15 फीसदी गिरावट आई है। 1990 से अब तक हर साल समुद्री जलस्तर में 3.3 मिलिमीटर की बढ़ोतरी हो रही है। उत्तरी हिंद महासागर और उष्णकटिबंधीय प्रशांत महासागर का पश्चिमी हिस्से का जलस्तर लगातार तेजी से बढ़ रहा है। यह ग्लोबल मीन से कई गुना ज्यादा है। इसकी वजह से भौगोलिक विभिन्नता और गर्मी का विभाजन है। इंडोनेशिया के पापुआ में स्थित 4884 मीटर ऊंचा पुनकैक जाया ग्लेशियर पिछले 5 हजार सालों से है। लेकिन वर्तमान गर्मी की दर को देखते हैं तो यह अगले पांच साल में खत्म हो जाएगा। इसके साथ ही हिमालय और एंडीज के कई ग्लेशियर भी पिघल जाएंगे।
साउथ-ईस्ट एशिया और साउथ-वेस्ट पैसिफिक इलाके में तूफान और चक्रवात आना आम बात है। लेकिन अब इनकी तीव्रता और भयावहता बढ़ रही है। अप्रैल 2020 में पांचवीं श्रेणी का ट्रॉपिकल साइक्लोन हैरोल्ड ने सोलोमन आइलैंड, वानुआतू, फिजी और टोंगा में आया। काफी तबाही मचाई। अक्टूबर और नवंबर में फिलिपींस में तूफान गोनी ने काफी ज्यादा बारिश की, जिससे बाढ़ की स्थिति बन गई। साल 2019-20 में पूर्वी ऑस्ट्रेलिया में लगी जंगली आग ने भयानक स्तर का प्रदूषण किया। करोड़ हेक्टेयर जमीन जल गई। 33 लोगों की मौत हुई। 3000 से ज्यादा घर जल गए। करोड़ों जीव मारे गए। कई जीवों की तो प्रजातियां ही खत्म हो गईं।
पिछले साल ऑस्ट्रेलिया के पश्चिमी सिडनी इलाके में तापमान 48.9 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया था। कैनबरा में 44 डिग्री सेल्सियस था। यह साल 2019 की तुलना में एक डिग्री ज्यादा था। साल 1910 के तुलना में 1.4 डिग्री सेल्सियस अधिक था। दक्षिण-पूर्व एशिया और दक्षिण-पश्चिम प्रशांत इलाके में साल 2000 से 2019 तक क्लाइमेट चेंज की वजह से आने वाली मुसीबतों की वजह से 1500 लोगों की मौत हुई है। करीब 80 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। सिर्फ पिछले साल यानी 2020 में इसी इलाके में 500 लोगों की मौत हुई थी। जबकि, 1.10 करोड़ लोग प्रभावित हुए थे। इनमें सबसे ज्यादा नुकसान चक्रवाती तूफानों की वजह से हुआ था।

रूस-यूक्रेन सीमा के तनाव पर चर्चा की: महासचिव

रूस-यूक्रेन सीमा के तनाव पर चर्चा की: महासचिव    

अखिलेश पांडेय        

मास्को/कीव। नाटो महासचिव जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उर्सुला वॉन डेर लेयेन के साथ रूस-यूक्रेन सीमा के तनाव पर चर्चा की है।स्टोलटेनबर्ग ने बुधवार देर रात अपने ट्विटर पेज पर लिखा, “ रूस और यूक्रेन को लेकर सुश्री वॉन डेर लेयन के साथ अच्छी बातचीत हुई। मैंने उन्हें हमारे नाटो रक्षा मंत्रियों की पहले दिन की बैठक के बारे में बताया। हम अपने करीबी नाटो-यूरोपीय संघ के सहयोग को जारी रखेंगे और अपने सभी नागरिकों हितों के लिए एकजुट रहेंगे।”

बुधवार को नाटो सदस्य देशों के रक्षा मंत्रियों ने यूक्रेन की स्थिति पर चर्चा की। उन्होंने तनाव को कम करने को लेकर राजनयिक प्रयासों का स्वागत किया और साथ ही पूर्वी यूरोप में अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती पर विचार करने का निर्णय लिया गया।पश्चिम देशों का आरोप है कि रूस सीमा पर सैनिकों जामवड़ा कर यूक्रेन पर हमले की तैयारी कर रहा है।

पर्याप्त धन आवंटित करने की सिफारिश की: समिति

पर्याप्त धन आवंटित करने की सिफारिश की: समिति  

अकांशु उपाध्याय      

नई दिल्ली। संसद की एक समिति ने गृह मंत्रालय से साइबर अपराधों की रोकथाम के लिए सभी राज्यों में साइबर प्रशिक्षण प्रयोगशालाओं की स्थापना और मौजूदा प्रशिक्षण बुनियादी ढांचों के सुदृढ़ीकरण के लिए पर्याप्त धन आवंटित करने की सिफारिश की है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा की अध्यक्षता में संसद की गृह मंत्रालय से संबंधित स्थायी समिति ने हाल में दी गयी रिपोर्ट में देश में साइबर अपराधों की बढ़ती दर पर चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा है कि राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो के आकड़ों के अनुसार वर्ष 2018 में साइबर अपराध के मामले 27,248 थे, जो वर्ष 2020 में बढ़कर 50,035 हो गए।

समिति का मानना है कि ये अपराध मुख्य रूप से वित्तीय लेन-देन से संबंधित हैं। अपराधी न केवल मासूम और कमजोर विशेष रूप से बुजुर्ग लोगों को निशाना बनाते हैं और उनकी बचत हड़प लेते हैं। वे जाने-माने व्यक्तियों और मशहूर हस्तियों को भी ठगते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में बढ़ते साइबर अपराधों से निपटने के लिए विशेष प्रशिक्षण की आवश्यकता है। समिति ने पुलिसकर्मियों को प्रशिक्षित करने के लिए राज्य प्रशिक्षण अकादमियों के साथ समन्वय करने और साइबर अपराधों से निपटने के लिए उन्हें समय समय पर नये तकनीकी उपकरणों ने अपग्रेड करने की अनुशंसा की है । समिति ने प्रशिक्षण अकादमियों में साइबर विशेषज्ञों की भर्ती करने की सलाह भी दी है।

समिति समझती है कि राज्य अपराध जांच के प्रबंधन में जनशक्ति और संसाधनों की कमी का सामना कर रहे हैं। वह यह अनुशंसा करती है कि गृह मंत्रालय को नागरिक समाज के आईटी विशेषज्ञों के स्वं सहायता समूह बनाने पर विचार करना चाहिए जाे साइबर चोरों का पता लगाने और उन्हें न्यायिक प्रक्रिया के तहत लाने के तरीकों को विकसित करने में योगदान दे सकते हैं। राज्य पुलिस को साइबर अपराधों की तत्काल रिपोर्टिंग के लिए एक साइबर क्राइम हेल्प डेस्क बनाना चाहिए, जिससे वे शीध्र इसकी जांच कर सकें। समय पर हस्तक्षेप से ऐसे अपराधों की राेकथाम के साथ-साथ पीड़ितों को राहत भी मिल सकती है। गृह मंत्रालय ने समिति को सूचित किया था कि साइबर जांच पर प्रशिक्षण को मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय डिजिटल अपराध संसाधन और प्रशिक्षण केन्द्र साइबर जांच के लिए प्रशिक्षण प्रदान करता है। इसने पिछले पांच वर्षों में 8800 से अधिक अधिकारियों को प्रशिक्षित किया है।


'जीएसटी' में सबसे बड़ा बदलाव करने की तैयारी

'जीएसटी' में सबसे बड़ा बदलाव करने की तैयारी    

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। मोदी सरकार के आने के बाद जो कुछ बड़े बदलाव देखने को मिले हैं। जीएसटी उनमें से एक है। कुछ ही महीने बाद जीएसटी व्यवस्था के 5 साल पूरे होने वाले हैं। इससे पहले जीएसटी प्रणाली में अब तक का सबसे बड़ा बदलाव करने की तैयारी चल रही है। इन बदलावों में टैक्स स्लैब में कमी, दरों के ब्रैकेट में बदलाव, राज्यों को मिलने वाली क्षतिपूर्ति का बंद होना आदि शामिल है।

संसद में जीएसटी एक्ट को 29 मार्च 2017 को पारित किया गया था। इसके बाद सरकार ने 01 जुलाई 2017 से इस नई व्यवस्था को लागू किया। इस बदलाव के तहत पहले से मौजूद एक्साइज ड्यूटी वैल्यू ऐडेड टैक्स और सर्विस टैक्स जैसे इनडाइरेक्ट टैक्सेज को मिलाकर सिंगल इनडाइरेक्ट टैक्स बनाया गया।  इसके पीछे यह विचार था कि इनडाइरेक्ट टैक्स की व्यवस्था को सरल किया जाए। हालांकि अभी भी डीजल, पेट्रोल, शराब, एटीएफ समेत कई ऐसे प्रॉडक्ट हैं, जिन्हें अभी तक जीएसटी में शामिल नहीं किया गया है।
दूसरी ओर कई व्यवसायी संगठन और टैक्स एक्सपर्ट बार-बार ये बात दोहराते आए हैं कि जीएसटी व्यवस्था अभी भी जटिल है। जीएसटी लागू होने के बाद इसमें अब तक कई बदलाव किए जा चुके हैं। लोगों की सबसे अहम डिमांड ये है कि जीएसटी के तहत टैक्स स्लैब की संख्या कम की जानी चाहिए। अभी जीएसटी के तहत 5 फीसदी, 12 फीसदी, 18 फीसदी और 28 फीसदी के 4 स्लैब हैं। सरकार भी इन्हें घटाकर 3 करना चाहती है।
अगर स्लैब की संख्या कम हुई तो दरों में भी बदलाव किया जाएगा। 

2 अतिरिक्त रेलवे लाइनों को समर्पित करेंगे 'पीएम'

2 अतिरिक्त रेलवे लाइनों को समर्पित करेंगे 'पीएम'   

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेलवे लाइनों को समर्पित करेंगे। प्रधानमंत्री मुंबई उपनगरीय रेलवे की दो उपनगरीय ट्रेनों को भी हरी झंडी दिखाएंगे। इसके बाद वह लोगों को संबोधित भी करने वाले हैं। कल्याण मध्य रेलवे का मुख्य जंक्शन है। जहां उत्तरी और दक्षिणी भाग से आने वाला यातायात छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसटीएम) की ओर जाता है।

कल्याण और सीएसटीएम के बीच की चार पटरियों में से दो धीमी लोकल ट्रेनों के लिए और दो का इस्तेमाल फास्ट लोकल, मेल एक्सप्रेस और मालगाड़ियों के लिए किया गया था। उपनगरीय और लंबी दूरी की ट्रेनों को अलग करने के लिए दो अतिरिक्त पटरियों की योजना बनाई गई थी। ठाणे और दिवा को जोड़ने वाली दो अतिरिक्त रेल लाइनें लगभग 620 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई हैं और इसमें 1.4 किमी लंबा रेल फ्लाईओवर, 3 बड़े पुल, 21 छोटे पुल शामिल हैं। ये लाइनें मुंबई में उपनगरीय ट्रेनों के साथ-साथ लंबी दूरी की ट्रेनों के यातायात में व्यवधान को काफी हद तक दूर करने जा रही हैं। इन लाइनों से शहर में 36 नई उपनगरीय ट्रेनें भी चलाई जाएँगी।

सीजी: बेरोजगार युवाओं को रोजगार पाने का अवसर

सीजी: बेरोजगार युवाओं को रोजगार पाने का अवसर  

दुष्यंत टीकम       

कोरिया। कोरिया जिले के बेरोजगार युवाओं को रोजगार पाने का सुनहरा अवसर मिल रहा है। एसआईएस के माध्यम से सुरक्षा जवान, सुरक्षा सुपरवाईजर, सी.आई.टी, इन्सटेक्टर, भर्ती अधिकारी के पद पर भर्ती की जा रही है। भर्ती अधिकारी श्री कुलदीप सोनकिया ने बताया कि शिविर का आयोजन 06 फरवरी से शुरू हो चुका है। जो 25 फरवरी तक किया जायेगा। अब तक 08 शिविर हो चुके हैं। जिनमें 400 से ज्यादा युवाओं ने भाग लिया। इनमें से 52 लोगों की भर्ती की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि इच्छुक युवा नियत तिथि एवं समय पर उपस्थित होकर रोजगार प्राप्त कर सकते है।

मनेन्द्रगढ़ थाना में 06 फरवरी को शिविर का आयोजन किया गया। इसके बाद थाना चिरमिरी, पोड़ी, चरचा, पटना, झगराखाण्ड, खड़गवां और थाना केल्हारी में कैम्प का आयोजन किया जा चुका है। थाना कोटाडोल में 17 फरवरी को आयोजित कैम्प में 50 से भी ज्यादा ग्रामीण युवा पहुंचे। जहां लगभग निर्धारित मापदंडों के आधार पर 10 लोगों का चयन किया गया है। आगामी कैम्प थाना जनकपुर में 21 फरवरी, थाना सोनहत में 22 फरवरी, थाना बैकुण्ठपुर में 23 फरवरी एवं पुलिस लाईन बैकुण्ठपुर में 25 फरवरी को आयोजन किया जाएगा। अधिक जानकारी के लिए भर्ती अधिकारी के मोबाइल नम्बर 7509781949 एवं कमान्डेन्ट अनिश तिवारी मोबाइल नम्बर 9523046444 से सम्पर्क किया जा सकता है।

राजनीतिक दलों के बीच आरोप-प्रत्यारोप तेज हुए

राजनीतिक दलों के बीच आरोप-प्रत्यारोप तेज हुए    

अमित शर्मा      

चंडीगढ़। जैसे-जैसे पंजाब चुनाव की तारीख नजदीक आ रही है। वैसे-वैसे राजनीतिक दलों के बीच आरोप-प्रत्यारोप तेज हो रहे हैं। कांग्रेस पंजाब में अपनी कुर्सी बचाने के लिए तमाम कोशिशें कर रही हैं। इसी कड़ी में उसने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह को भी उतार दिया है। गुरुवार को डॉ. मनमोहन सिंह ने मोर्चा संभाला और केंद्र की बीजेपी सरकार पर जमकर हमला किया।पूर्व पीएम डॉ. मनमोहन सिंह ने कहा कि, कोरोना के दौरान केंद्र सरकार की खराब नीतियों के कारण लोग आर्थिकता, बेरोजगारी और बढ़ती महंगाई से परेशान हैं। 7.5 साल सरकार चलाने के बाद सरकार अपनी गलती मानने और उसमें सुधार करने की जगह पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को जिम्मेदार ठहराने पर लगी है। संबंध किसी दूसे देश के नेता को गले लागकर या अचानक बिरयानी खाने के लिए पहुंचने से नहीं बनते। इस सरकार का नकली राष्ट्रवाद जितना खोखला है,  उतना ही खतरनाक है। इनका राष्ट्रवाद अंग्रेजों की ‘बांटों और राज करो’ की नीति पर टिका है। संवैधानिक संस्थाओं को लगातार कमजोर किया जा रहा है। ये सरकार विदेश नीति के मोर्चे पर भी पूरी तरह फेल साबित हुई है।

लोगों के मन में कांग्रेस के टाइम में हुए अच्छे काम अब भी याद हैं। पीएम के सुरक्षा के मुद्दे पर बीजेपी वालों ने पंजाब के सीएम और लोगों का अपमान करने की कोशिश की है। मनमोहन सिंह यहीं नहीं रुके, उन्होंने आर्थिक मोर्चे पर भी सरकार को घेरा. उन्होंने कहा कि, भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार को आर्थिक नीति की कोई समझ नहीं है। मामला देश तक ही सीमित नहीं है। यह सरकार विदेश नीति पर भी विफल रही है। चीन हमारी सीमा पर बैठा है और हमें दबाने की कोशिश की जा रही है।

गूगल ने वायरोलॉजिस्ट डॉक्टर को सम्मानित किया

गूगल ने वायरोलॉजिस्ट डॉक्टर को सम्मानित किया    

अकांशु उपाध्याय           

नई दिल्ली। गूगल ने ब्रहस्पतिवार को जापानी वायरोलॉजिस्ट डॉ. मिचियाकी ताकाहाशी को सम्मानित किया है। गूगल ने मिचियाकी के 94वीं जयंती पर गूगल डूडल बनाकर उन्हें सम्मानित किया है। हालांकि मिचियाकी के बारे में शायद कम लोगों को मालूम होगा। ऐसे में जान लीजिए कि वो मिचियाकी ही थी, जिन्होंने चिकनपॉक्स के खिलाफ दुनिया का पहला टीका विकसित किया था। यह जीवन रक्षक टीका 1970 के दशक में ताकाहाशी ने विकसित किया गया था और बाद में विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से इस पहला वैरिकाला वैक्सीन बन गया। इस टीके का इस्तेमाल 80 से ज्यादा देशों में किया जाएगा।

लाखों बच्चों को संक्रामक वायरल बीमारी से निजात मिली। ताकाहाशी का जन्म 17 फरवरी 1928 को जापान के ओसाका हुआ था। उन्होंने ओसाका विश्वविद्यालय से अपनी चिकित्सा की डिग्री हासिल की और 1959 में ओसाका विश्वविद्यालय के माइक्रोबियल रोग अनुसंधान संस्थान में शामिल हो गए। खसरा और पोलियो वायरस का अध्ययन करने के बाद ताकाहाशी ने 1963 में संयुक्त राज्य अमेरिका के बायलर कॉलेज में एक शोध फेलोशिप स्वीकार की।

मिचयाकी का बेटा भी चिकनपॉक्स की गंभीर बीमारी से ग्रसित हो गया था। इसके बाद ताकाहाशी 1965 में जापान लौट आए और जानवरों और मानव ऊतकों में जीवित लेकिन कमजोर चिकनपॉक्स वायरस की कल्चरिंग शुरू कर दी। 1974 में ताकाहाशी ने चिकनपॉक्स की वजह से बनने वाले वैरिकाला वायरस को टारगेट करने वाला पहला टीका विकसित किया था। 1986 में ओसाका विश्वविद्यालय के माइक्रोबियल रोगों के लिए रिसर्च फाउंडेशन ने रोलआउट शुरू किया। डब्ल्यूएचओ की ओर से जापान की एकमात्र वैरिकाला वैक्सीन के रूप में चिकनपॉक्स टीके की इजाजत दी। 

सीएम ने 'भैया' वालें बयान पर चन्नी की आलोचना की

सीएम ने 'भैया' वालें बयान पर चन्नी की आलोचना की   

अविनाश श्रीवास्तव        
पटना। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने, पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के “भैया” वाले बयान को लेकर बृहस्पतिवार को उनकी आलोचना की। नीतीश कुमार ने संवाददाताओं से कहा कि चन्नी को इसकी कोई जानकारी नहीं है कि बिहार के लोगों ने पंजाब की कितनी सेवा की है। नीतीश कुमार ने कहा कि, यह सब बकवास है। मैं चकित हूं कि लोग ऐसी चीजें कैसे कह सकते हैं। क्या उन्हें (चन्नी) यह पता नहीं है कि बिहार के कितने लोग वहां (पंजाब में) रहते हैं और उन्होंने उस क्षेत्र की कितनी सेवा की है।
नीतीश कुमार की सहयोगी पार्टी भाजपा ने, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाद्रा पर चन्नी के इस बयान को प्रोत्साहन देने का आरोप लगाया है। इस बाबत पूछे गए सवाल का कुमार ने कोई जवाब नहीं दिया। चन्नी ने पंजाब में एक चुनावी सभा में कहा था कि राज्य की जनता को उत्तर प्रदेश, बिहार और दिल्ली से आने वाले “भैया” लोगों को प्रवेश नहीं देना चाहिए। सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में वाद्रा को चन्नी के बगल में खड़ी होकर ताली बजाते देखा जा सकता है।

स्कूल बस के अनियंत्रित होने से 2 बच्चों की मौंत

स्कूल बस के अनियंत्रित होने से 2 बच्चों की मौंत       

नरेश राघानी           
जैसलमेर। जिले के फलसूंड थाना क्षेत्र में बृहस्पतिवार की सुबह तेज गति से जा रही एक स्कूल बस के अनियंत्रित हो कर पलट जाने से दो बच्चों की मौत हो गई और 22 अन्य घायल हो गये। पुलिस ने यह जानकारी दी। थानाधिकारी भवंरलाल ने बताया जेतपुरा गांव के पास सुबह स्कूल बस के पलट जाने से उसके नीचे दब कर दो बच्चों की मौत हो गई। जबकि 22 अन्य बच्चे घायल हो गये।
गंभीर रूप से घायल पांच बच्चों को जोधपुर रैफर किया गया है। उन्होंने बताया कि अन्य घायलों को उपचार के लिये स्थानीय अस्पताल ले जाया गया हैं। इस संबंध में बस चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।

डिग्री कॉलेजों में किसी प्रकार की वर्दी संहिता नहीं

डिग्री कॉलेजों में किसी प्रकार की वर्दी संहिता नहीं   

इकबाल अंसारी      
बेंगलुरु। कर्नाटक में उडुपी जिले के सरकारी शंकर मेमोरियल महिला प्रथम श्रेणी डिग्री कॉलेज में पढ़ने वाली, अंतिम वर्ष की करीब 60 छात्राओं को बृहस्पतिवार को इसलिए घर वापस भेज दिया गया।क्योंकि उन्होंने अपना हिजाब उतारने से मना कर दिया था। मुस्लिम छात्राओं ने कॉलेज प्रशासन से इस बात को लेकर बहस की कि मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया है कि डिग्री कॉलेजों में किसी प्रकार की वर्दी संहिता नहीं है। लेकिन अधिकारियों ने कहा कि कॉलेज विकास समिति ने नियम तय किए हैं। 
छात्राओं ने इस बात पर जोर दिया कि वह बिना सिर ढके कक्षाओं में शामिल नहीं होंगी। उन्होंने कहा कि उनके लिए हिजाब और शिक्षा दोनों अहम हैं। वे यह भी चाहती थीं कि अगर सरकार ने डिग्री कॉलेजों में वर्दी संहिता लाने का फैसला किया है तो कॉलेज की समिति यह लिखित में दे। एक छात्रा ने संवाददाताओं से कहा कि मुख्यमंत्री ने स्पष्ट किया है कि डिग्री कॉलेजों में हिजाब संबंधी नियम लागू नहीं होता है।
उन्होंने कहा “जब हमने इसके बारे में पूछा, तो वे कहते हैं कि केवल कॉलेज समिति का निर्णय यहां लागू होता है।” उन्होंने कहा कि हिजाब उनके जीवन का हिस्सा है और वे इसे हर समय कक्षाओं में पहनी रहती हैं। उन्होंने कहा, ” जब कोई अचानक आपसे इसे उतारने के लिए कहता है तो इसे नहीं उतारा जा सकता है। हमने कॉलेज से हमारे लिए ऑनलाइन कक्षाएं आयोजित करने के लिए कहा है।
छात्राओं ने कहा कि जब तक उच्च न्यायालय इस मुद्दे पर फैसला नहीं ले लेता तब तक वे कॉलेज आकर कक्षाओं में शामिल नहीं होंगी। कॉलेज में कक्षाएं सुचारू रूप से चल रही हैं। किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए कॉलेज परिसर में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। इस बीच, उडुपी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक सिद्दलिंगप्पा ने मीडिया को बताया कि कॉलेज दोबारा खुलने के दूसरे दिन, जिले के सभी कॉलेजों में स्थिति शांतिपूर्ण है। 
उन्होंने कहा कि उन मुस्लिम छात्राओं को सरकारी जी शंकर कॉलेज में कक्षाओं में शिरकत करने की इजाज़त दी गई है जो हिजाब उतारने की इच्छुक थीं। एमजीएम कॉलेज ने आज छुट्टी का ऐलान किया था और वह शुक्रवार को परीक्षा के लिए खुलेगा।

गुजरात इकाई के प्रवक्ता जयराज का पार्टी से इस्तीफा

गुजरात इकाई के प्रवक्ता जयराज का पार्टी से इस्तीफा  

इकबाल अंसारी        

अहमदाबाद। कांग्रेस की गुजरात इकाई के प्रवक्ता जयराज सिंह परमार ने बृहस्पतिवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने दावा किया कि संगठन ने उन्हें लंबे समय से अलग-थलग कर रखा था और पार्टी कुछ ऐसे गिनेचुने नेताओं की ‘निजी संपत्ति’ बन गई है जो चुनाव नहीं जीत सकते। ऐसी चर्चा है कि परमार गुजरात में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि वह अपनी भविष्य की योजनाओं के बारे में बाद में जानकारी देंगे। परमार ने अपने त्यागपत्र में पार्टी की प्रदेश इकाई के कामकाज को लेकर नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि उन्हें उनके कद के हिसाब से पार्टी संगठन में कोई ‘सम्मानजनक पद’ की पेशकश नहीं की गई और 10 साल तक जानबूझकर अलग-थलग रखा गया।

 विधानसभा चुनाव तथा 2019 के उपचुनाव में मेहसाणा जिले की खेरालू विधानसभा सीट से टिकट मांगा था, लेकिन टिकट नहीं दिया गया। इसके बावजूद मैं पार्टी के प्रति प्रतिबद्ध रहा। अतीत में मैंने पार्टी की भीतर कमियों को लेकर कई बार नेताओं का ध्यान आकृष्ट किया, इसके बावजूद कामकाज के तरीके में कोई बदलाव नहीं हुआ। पार्टी को छोड़ने के अलावा मेरे पास कोई विकल्प नहीं बचा था।” परमार ने कहा कि वह अपने निजी और पेशेवर जीवन को दरकिनार कर, पार्टी को राज्य में मजबूत बनाने के लिए पिछले 37 साल से प्रयासरत रहे लेकिन अब मैं थक गया हूं। कांग्रेस हालांकि 27 साल से राज्य में सत्ता से बाहर है लेकिन आप देखेंगे कि वही पुराने चेहरे पार्टी को चला रहे हैं।

उन्होंने कहा ”जो लोग अपनी सीटें नहीं बचा सके उन्हें पूरे राज्य में पार्टी चलाने का जिम्मा दिया गया है। कांग्रेस उन गिने-चुने नेताओं की निजी संपत्ति बन गई है जो अगली पीढ़ी के नेताओं के लिए जिम्मेदारियां छोड़ने के वास्ते तैयार नहीं हैं।

एक्ट्रेस उर्फी ने अपना एक वीडियो शेयर किया: मुंबई

एक्ट्रेस उर्फी ने अपना एक वीडियो शेयर किया: मुंबई   

कविता गर्ग       

मुंबई। हर दिन अपने नए अंदाज को लेकर एक्ट्रेस उर्फी जावेद सुर्खियों में छाई रहती हैं। कभी अपने आउटफिट्स को लेकर तो कभी अपनी बेबाक बयान को लेकर। अब हाल ही में सोशल मीडिया पर उर्फी जावेद की एक वीडियो तेजी से वायरल होती हुई नजर आ रही है। इस वीडियो में उर्फी बॉलीवुड एक्ट्रेस आलिया भट्ट के बारे में बात करती हुई नजर आ रही हैं। हाल ही में उर्फी जावेद ब्लू कलर की कटआउट ड्रेस पहन शहर में निकलीं थी। इस दौरान उन्हें पैपराजी से चिटचैट करते हुए देखा गया। जिसका एक क्लिप सोशल मीडिया पर ट्रेंड कर रहा है। अब उर्फी की इस वीडियो को देख सोशल मीडिया यूजर्स अपनी प्रतिक्रिया जाहिर कर रहे हैं। इंस्टेंट बॉलीवुड ने अपना एक वीडियो शेयर किया है।

जिसमें उर्फी कहती हुई सुनी जा सकती हैं कि आलिया भट्ट से वो 5 साल पहले एक पार्टी में मिली थीं। उस दौरान उन्हें देख आलिया ने प्रिटी कहा था। लेकिन तब उर्फी ने कुछ भी जवाब नहीं दे पाई थीं, बस वो ये सोचने में लगी थीं कि क्या आलिया भट्ट ने सच में उन्हें प्रिटी कहा है। आलिया को उर्फी जवाब नहीं दे पाईं इस बात का उन्हें दुख है, साथ ही उन्होंने खुद को एक वियर्ड बच्ची बताया है। उर्फी  की इस वीडियो को देखने के बाद से सोशल मीडिया यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया है। कोई उर्फी को झूठी कह रहा है, तो किसी का कहना है उर्फी  से राखी सावंत बेहतर हैं। एक ने लिखा- ये तो राखी सावंत  से भी ऊपर की निकल गई, कितना फेंकती रहती है।

एक्ट्रेस रुबीना ने अपना लेटेस्ट फोटोशूट साझा किया

एक्ट्रेस रुबीना ने अपना लेटेस्ट फोटोशूट साझा किया    

कविता गर्ग        
मुंबई। टीवी एक्ट्रेस रुबीना दिलैक ब्रहस्पतिवार को अपनी बेहतरीन अदाकारी के दम पर इंडस्ट्री में एक ऊंचा मुकाम हासिल कर चुकी हैं। रुबीना लगभग हर दिन फैंस के साथ अपनी फोटोज और वीडियोज शेयर करती रहती हैं। अब एक बार फिर से उन्होंने अपना लेटेस्ट फोटोशूट साझा किया है। इन तस्वीरों में रुबीना का पर्पल लुक देखने को मिल रहा है।

यहां वह लाइट पर्पल शेड की डीपनेक नेट वाली शॉर्ट ड्रेस पहने दिख रही हैं। उन्होंने अपने बालों में ही इस कलर को दिखाते हुए पर्पल कलर के एक्सटेंशन लगाए हैं। रुबीना ने इस दौरान अपने बालों को आधा बांधा हुआ है। उन्होंने अपने इस लुक को कंप्लीट करने के लिए लाइट मेकअप किया है। रुबीना का यह अंदाज काफी अलग और हॉट दिख रही हैं। उनकी ये फोटोज फैंस का ध्यान खूब खींच रही हैं। एक्ट्रेस ने यहां कई पोज में अपनी अलग-अलग अदाएं दिखाई हैं।

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 30,757 नए मामलें मिलें

भारत: 24 घंटे में कोरोना के 30,757 नए मामलें मिलें   

अकांशु उपाध्याय         

नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस के मामले धीरे-धीरे फिर बढ़ रहे हैं। देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 30 हजार 757 नए केस सामने आए हैं और 541 लोगों की मौत हो गई।

वहीं केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब एक्टिव मामलों की संख्या घटकर 3 लाख 32 हजार 918 हो गई है। वहीं, इस महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 5 लाख 10 हजार 413 हो गई है। इस बीच अच्छी खबर यह है कि अब तक 4 करोड़ 19 लाख 10 हजार 984 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं।

भारत-यूक्रेन के बीच उड़ानों पर लगा प्रतिबंध हटाया

गौरतलब है कि रूस और यूक्रेन के बीच गहराती युद्ध की आशंकाओं के चलते वहां पढ़ रहे करीब 20 हजार भारतीय छात्र कीव में फंसे हुए हैं। ये छात्र लगातार केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगा रहे हैं। इसके चलते गुरुवार को सरकार की ओर से उड़ानों पर लागू प्रतिबंधों को हटा लिया गया है। इसके साथ ही आपको बता दें कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय के इस फैसले के तत्काल बाद ही एयर इंडिया ने यूक्रेन के लिए विशेष उड़ानें संचालित करने घोषणा कर दी है।

प्राइवेट नौकरियों में आरक्षण, आदेश पर रोक लगाईं

प्राइवेट नौकरियों में आरक्षण, आदेश पर रोक लगाईं   

अकांशु उपाध्याय     

नई दिल्ली। प्राइवेट नौकरियों में आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब और हरियाणा कोर्ट पर अंतरिम आदेश पर रोक लगा दी है। हरियाणा सरकार ने प्राइवेट नौकरियों में 75 फ़ीसदी आरक्षण देने का फैसला किया था। जिस पर पंजाब और हरियाणा कोर्ट ने अंतरिम आदेश जारी करके रोक लगा दी थी। ज्ञात हो कि इस केस की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस नागेश्वर राव और किसने की थी।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि, हाईकोर्ट इस मामले पर 1 महीने के अंदर फैसला करें और राज्य सरकार को निर्देश दे कि फिलहाल एंपलॉयर्स के खिलाफ कोई कड़ी कार्यवाही नहीं किया जाए। आपको बता दें कि हरियाणा सरकार ने राज्य के लोगों को प्राइवेट सेक्टर में नौकरियों में सैलरी 30 हजार से भी कम है, उसमें 75 आरक्षण देने का प्रावधान किया था जिसे लेकर हरियाणा सरकार ने हरियाणा राज्य स्थानीय उम्मीदवार रोजगार अधिनियम 2020 पास किया था।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-132, (वर्ष-05)
2. शुक्रवार, फरवरी 18, 2022
3. शक-1984, फाल्गुन, कृष्ण-पक्ष, तिथि-दूज, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 07:01, सूर्यास्त: 06:09।
5. न्‍यूनतम तापमान- 11 डी.सै., अधिकतम-26+ डी सै.।  बर्फबारी व शीतलहर की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, (प्रधान संपादक) राधेश्याम व शिवांशु, (सहायक संपादक) श्रीराम व सरस्वती के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
10.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालयः डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम 

सेंट्रल पीस कमेटी की बैठक का आयोजन: डीएम  हरिशंकर त्रिपाठी  देवरिया। जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह की अध्यक्षता में दशहरा, ईद...