गुरुवार, 29 अगस्त 2019

मोबाइल सेवा बहाल,येचुरी श्रीनगर रवाना

SC की इजाजत के बाद श्रीनगर रवाना हुए सीताराम येचुरी
5 जिलों में मोबाइल सेवा बहाल


श्रीनगर। सुप्रीम कोर्ट से परमिशन मिलने के बाद सीताराम येचुरी ने ट्वीट किया था, 'उच्चतम न्यायालय ने मुझे श्रीनगर जाकर कॉमरेड यूसुफ तारिगामी से मिलने की अनुमति दे दी है। न्यायालय ने मुझे उनके स्वास्थ्य के बारे में उसे 'बताने' को कहा है। मैं उनसे मिलने, लौटने और अदालत को इसकी जानकारी देने के बाद ही विस्तृत बयान दूंगा।
जम्मू-कश्मीर में जारी तमाम प्रतिबंधों के बीच  सुप्रीम कोर्ट  ने सीपीआई (लेफ्ट) के महासचिव सीताराम येचुरी को श्रीनगर जाने की इजाजत दे दी है।आज (गुरुवार को) येचुरी श्रीनगर के लिए रवाना हो रहे हैं। उन्होंने कोर्ट से अपने विधायक और दोस्त एमवाई तरिगामी से मिलने की अनुमति मांगी थी। इस पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि हम आपको आपके दोस्त से मिलने की इजाजत देंगे, लेकिन इस दौरान आप कुछ और काम नहीं कर पाएंगे। वहीं, जम्मू-कश्मीर में आर्टिकल 370 हटने के 25वें दिन जम्मू के पांच जिलों में मोबाइल सर्विसेज बहाल कर दी गई हैं।


सुनील होने चाहिए ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष

सुनील गौर जैसे निर्भिक और ईमानदार न्यायाधीश को ही ट्रिब्यूनल का अध्यक्ष बनाया जाना चाहिए। चिदंबरम की अग्रिम जमानत खारिज की थी।

केन्द्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश सुनील गौर को प्रिवेंशन ऑफमनी लोड्रिंग एक्ट ट्रिब्यूनल का अध्यक्ष नियुक्त किया है। 23 अगस्त को हाईकोर्ट से रिटायर हुए न्यायाधीश गौर आगामी 23 सितम्बर को ट्रिब्यूनल के अध्यक्ष का कार्यभार संभालेंगे। कांग्रेस और विपक्षी दलों के नेताओं को न्यायाधीश गौर की नई नियुक्ति उचित नहीं लग रही है। असल में रिटायरमेंट से दो दिन पहले ही 21 अगस्त को न्यायाधीश गौर ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की अग्रिम जमानत खारिज कर दी थी, इसलिए सीबीआई चिदंरबम को 22 अगस्त की रात को गिरफ्तार कर सकी। कांग्रेस के नेताओं को लगता है कि न्यायाधीश गौड ने पी चिदंबरम की जमानत खारिज की, इसलिए केन्द्र सरकार ने ट्रिब्यूनल का अध्यक्ष बनाकर उपकृत किया है। असल में कांग्रेस अपने 55 वर्ष के शासन में ऐसा ही करती आई थी, इसलिए अब उसी नजरिए से सोचा जा रहा है, जबकि न्यायाधीश गौर ने सभी सबूतों को देखते हुए संवैधानिक तरीके से जमानत खारिज की। यह संयोग ही है कि न्यायाधीश गौड दो दिन बाद रिटायर हो रहे थे। हाईकोर्ट के न्यायाधीशों की नियुक्ति सुप्रीम कोर्ट द्वारा की जाती है और इस समय सीजेआई के पद पर जस्टिस रंजन गोगोई बैठे हैं, जिनकी ईमानदारी पर कांग्रेस को भी शक नहीं है। जहां तक न्यायाधीश गौर को प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉड्रिंग एक्ट ट्रिब्यूनल का अध्यक्ष बनाए जाने का सवाल है तो ऐसे महत्वपूर्ण ट्रिब्यूनल में सुनील गौर जैसे ईमानदार न्यायाधीश की ही नियुक्ति होनी चाहिए। यदि न्यायाधीश गौड कानून के दायरे में चिदंबरम की अग्रिम जमानत खारिज नहीं करते तो चिदंबरम कानून के शिकंजे में कैसे आते? राजनीति में से भ्रष्टाचार तभी खत्म होगा, जब चिदंबरम जैसे राजनेता गिरफ्तार होकर जेल जाएंगे। एक तरफ आम धारणा है कि राजनेता कितना भी भ्रष्टाचार कर लें, लेकिन उनके विरुद्ध कार्यवाही नहीं होती। इस धारणा को तोडऩे का काम ही न्यायाधीश गौर ने किया है। चिदंबरम के खिलाफ सीबीआई के पास भ्रष्टाचार के जो सबूत हैं उनसे अब सुप्रीम कोर्ट से भी कोई राहत नहीं मिल रही है। अब साफ हो गया है कि चिदंबरम ने केन्द्रीय वित्त मंत्री की हैसियत से जो निर्णय किए, उनकी एवज में आईएनएक्स मीडिया जैसी कंपनियों ने उनके पुत्र कार्ति चिदंरबम की कंपनियों में करोड़ों की राशि जमा करवाई। 
एस.पी.मित्तल


आख़िर, डर किसका है? ( संपादकीय)

तो क्या पाकिस्तान के मिसाइल परीक्षण से भारत डर जाएगा? 
31 अगस्त तक बंद हैं एयर स्पेस। 

28 अगस्त को जब पाकिस्तान ने सम्पूर्ण एयर स्पेस बंद करने की घोषणा की थी, तभी यह आशंका हो गई थी कि पाकिस्तान कुछ न कुछ हरकत करेगा। 29 अगस्त को दोपहर में मीडिया में खबरें आई कि पाकिस्तान ने 28 अगस्त की रात को बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है। पाकिस्तान का दावा है कि 290 किलोमीटर तक जाने वाली यह मिसाइल अपने साथ 700 किलो विस्फोटक सामग्री ले जा सकती है। यानि यह मिसाइल जिस स्थान पर गिरेगी वहां 700 किलो विस्फोटक सामग्री का विस्फोट होगा। चूंकि मिसाइल का परीक्षण सफल रहा, इसलिए वैज्ञानिकों की टीम को पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष से लेकर प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति तक ने बधाई दी है। साफ जाहिर है कि पाकिस्तान की ओर से यह कार्यवाही भारत को डराने और दुनिया खासकर मुस्लिम देशों पर दबाव बनाने के लिए की गई है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को बेअसर करने के बाद से ही पाकिस्तान, भारत के खिलाफ जहर उगल रहा है। चूंकि कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को किसी भी देश का समर्थन नहीं मिमला, इसलिए अब आए दिन युद्ध की धमकी दी जा रही है। पाकिस्तान को लगता है कि हमला कर जम्मू कश्मीर हासिल कर लिया जाएगा। हालांकि प्रधानमंत्री इमरान खान ने तो परमाणु हमले की धमकी दी थी, लेकिन फिलहाल पाकिस्तान अपने ही देश में मिसाइल परीक्षण कर रहा है। यह बात अलग है कि भारत के पास 290 किलोमीटर से भी अधिक दूर तक जाने वाली मिसाइल तैयार है और भारत के पास एंटी मिसाइल तकनीक भी है। यानि पाकिस्तान की मिसाइल को हवा में ही नष्ट किया जा सकता है। सवाल उठता है कि क्या भारत-पाकिस्तान से डर जाएगा? 370 को बेअसर करने से पहले ही भारत ने हर परिस्थितियों पर विचार कर लिया था। भारत को पाकिस्तान की बौखलाहट के बारे में भी पता था। भारत ने पूरी तैयारी से 370 को बेअसर किया है। इसे सरकार और हमारे सुरक्षा बलों की समझदारी ही कहा जाएगा कि पांच अगस्त से पहले पूरा जम्मू कश्मीर आतंक की चपेट में था, लेकिन अब सिर्फ कश्मीर घाटी के पांच सात जिले ही आतंक ग्रस्त माने जा रहे हैं। अब सम्पूर्ण जम्मू और लद्दाख में हालात सामान्य है। यानि सरकार ने कम से कम जम्मू और लद्दाख को तो आतंक मुक्त कर भारत का कानून लागू कर दिया है। जहां तक कश्मीर घाटी का सवाल है तो अभी मात्र 23 दिन गुजरे हैं। सरकार के पास एक साल की रणनीति है। पत्थर फेंकने वाले कश्मीरियों को जब रोजगार मिलेगा तो घाटी में भी हालात सामान्य हो जाएंगे। पाकिस्तान कश्मीर के हालातों को लेकर चाहेे जो प्रोपेगंडा करे, लेकिन पिछले 23 दिन में सुरक्षा बलों को घाटी में गोली चलाने की जरूरत नहीं हुई है। अब मस्जिदों से जेहाद के नारों के बजाए शांति और अमन की अपील होती है। असल में पाकिस्तान और जम्मू कश्मीर में बैठे पाकिस्तान परस्त नेता महबूबा मुफ्ती, उमर अब्दुल्ला आदि को उम्मीद थी कि अनुच्छेद 370 को बेअसर करने के बाद जम्मू कश्मीर में आग लग जाएगी, लेकिन दोनों के ही मंसूबे पूरे नहीं हुए। पाकिस्तान को अब उसके कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद के छीनने का भी डर हो गया है। इमरान खान के खिलाफ पाकिस्तान में लगातार आक्रोश बढ़ता जा हा है। चूंकि पाकिस्तान ने 31 अगस्त तक एयर स्पेस पर रोक लगाई है, इसलिए उम्मीद है कि और मिसाइलों का परीक्षण होगा। देखना है कि पाकिस्तान इन हरकतों का अमरीका, रूस, चीन जैसे देशों में क्या असर पड़ता है। पाकिस्तान के लिए सबसे बड़ी मुसीबत मुस्लिम देशों का भारत के साथ खड़ा होना है। पाकिस्तान एक ओर कश्मीर से मुसलमानों की दुहाई दे रहा है तो दूसरी ओर एक भी मुस्लिम देश पाकिस्तान के साथ नहीं है। उल्टे भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को यूएई में सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित किया जा रहा है। 
एस.पी.मित्तल


'पायलट' किसको जिम्मेदार ठहरांगे ?

राजस्थान में छात्रसंघ चुनाव में हार के लिए अब सचिन पायलट किसे जिम्मेदार ठहराएंगे? लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार पर की थी टिप्पणी। चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा के केकड़ी में भी हार। 

लोकसभा चुनाव में राजस्थान की सभी 25 सीटों पर कांग्रेस उम्मीदवारों की हार पर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और सरकार में डिप्टी सीएम रह कर सत्ता का सुख भोग रहे सचिन पायलट ने कहा था कि सरकार में बैठे लोगों को इस बात पर विचार करना चाहिए कि विधानसभा में जीतने के बाद हम लोकसभा में क्यों हार गए? हमें हार के कारणों का पता लगाना चाहिए। पायलट की यह टिप्पणी अशोक गहलोत के नेतृत्व में चल रही सरकार के कामकाज को लेकर थी। अब प्रदेश के अधिकांश कॉलेज और विश्वविद्यालयों में छात्रसंघ चुनाव में भी कांग्रेस के अग्रिम संगठन एनएसयूआई के उम्मीदवार हार गए हैं तो सवाल उठता है कि इस हार के लिए पायलट किसे जिम्मेदार ठहराएंगे? हालांकि पिछले 6 वर्षों में पायलट ने कांग्रेस संगठन का जो ढांचा खड़ा किया, उसी से जुड़े नेताओं ने ही छात्रसंघ चुनाव में उम्मीदवार तय किए। प्रदेश में नवम्बर माह में अनेक स्थानीय निकायों तथा अगले वर्ष जनवरी में पंचायतीराज के चुनाव होने हैं, तब अगस्त माह में प्रदेश के 11 विश्वविद्यालयों में से मात्र दो पर एनएसयूआई के उम्मीदवार जीते हैं। यानि 9 विश्वविद्यालयों में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा। 11 में से 5 पर भाजपा समर्थित अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद तथा 4 विश्वविद्यालयों में निर्दलीय उम्मीदवार जीते हैं। कमोबेश यही स्थिति प्रदेश भर के कॉलेजों की रही हैं। इससे कांग्रेस का कार्यकर्ता भी मायूस हैं। असल में पायलट ने प्रदेशाध्यक्ष रहते जिन लोगों को जिलाध्यक्ष बनाया, उनकी संगठन पर कोई पकड़ नहीं है। चूंकि ऐसे अध्यक्षों ने अपने समर्थक भरे, इसलिए कार्यकर्ताओं का जुड़ाव नहीं है। छात्र संघ में एनएसयूआई के उम्मीदवारों की हार के लिए कांगे्रस जिलाध्यक्षों को ही जिम्मेदार माना जा रहा है। क्या छात्र संघ चुनाव में मिली हार के लिए भी सचिन पायलट सरकार की ओर इशारा करेंगे? लोकसभा चुनाव में हार पर जो सवाल पायलट ने उठाया था उसका जवाब अभी तक नहीं आया है। नवम्बर में जिन शहरी निकायों के चुनाव होने हैं, वहां नगर पालिका के अध्यक्ष और नगर परिषद के सभापति का चुनाव सीधे तौर पर होगा। यानि संबंधित शहर के सभी मतदाता अध्यक्ष या सभापति चुनेंगे। छात्रसंघ चुनाव की हार से स्थानीय निकायों के परिणाम का अंदाजा कांग्रेस को लगा लेना चाहिए। हालांकि सचिन पायलट स्वयं कांग्रेस सरकार में डिप्टी सीएम की हैसियत से शामिल हैं, लेकिन पायलट कभी भी सरकार के कामकाज की जिम्मेदारी नहीं लेते। प्रदेशाध्यक्ष के तौर पर पायलट हमेशा अपनी ही सरकार पर हमलावर रहते हैं। 19 अगस्त को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी की जयंती पर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पर आयोजित सभा में भी पायलट ने सरकार पर हमला करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। इस सभा में सीएम अशोक गहलोत भी उपस्थित थे। 
मंत्री के निर्वाचन क्षेत्र में भी हार:
छात्रसंघ चुनाव में एनएसयूआई के उम्मीदवारों को जीताने की अपील करने वाले मंत्रियों में केकड़ी के विधायक और प्रदेश के चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा भी शामिल थे। रघु ने भी सोशल मीडिया पर वीडियो पोस्ट कर कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों को जीताने की अपील की थी, लेकिन एनएसयूआई का उम्मीदवार रघु के निर्वाचन क्षेत्र केकड़ी के गर्वमेंट कॉलेज में हार गया। जब रघु शर्मा अपने निर्वाचन क्षेत्र से ही एनएसयूआई के उम्मीदवार को नहीं जितवा सकते तो प्रदेशभर में रघु की अपील के असर का अंदाजा लगाया जा सकता है। गत लोकसभा चुनाव में भी केकड़ी से कांग्रेस उम्मीदवर रिजु झुनझुनवाला भी हजारों मतों से पिछड़ गए थे। केकड़ी कॉलेज के प्रमुख चारों पदों पर एनएसयूआई को हार मिली। एनएसयूआई के उम्मीदवार रघु की सहमति से ही तय हुए थे। चिकित्सा मंत्री  बनने के बाद केकड़ी में वो ही होता है जो रघु चाहते हैं। मंत्री होने के नाते रघु ही अजमेर जिले का प्रतिनिधित्व करते हैं, इसलिए 15 अगस्त को जिला स्तरीय समारोह में रघु ने ही झंडरोहण किया। लेकिन अजमेर जिले के मात्र दो कॉलेजों में एनएसयूआई के अध्यक्ष बन पाए हैं। ब्यावर में तो मात्र 3 मतों से जीत हो पाई है। एमडीएस यूनिवर्सिटी से लेकर पृथ्वीराज चौहान राजकीय महाविद्यालय तक में एनएसयूआई को हार का सामना करना पड़ा है। 
एस.पी.मित्तल


पानी भेदभाव का मामला पहुंचा एससी

बीसलपुर बांध के पानी के भेदभाव का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा। 
अजमेर की एडवोकेट अल्पना शर्मा ने दायर की जनहित याचिका। 

अजमेर। जिले के एक मात्र पेयजल के स्त्रोत बीसलपुर बांध के पानी में हो रहे भेदभाव का मामला अब सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। अजमेर निवासी एडवोकेट अल्पना शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की है। इस याचिका पर जल्द सुनवाई होगी। याचिका में कहा गया है कि बीसलपुर बांध का निर्माण अजमेर की प्यास बुझाने के लिए किया गया था, लेकिन अब अजमेर के बजाए जयपुर को प्राथमिकता दी जा रही है। अजमेर में दो-तीन दिन में एक बार पेयजल की सप्लाई हो रही है जबकि बीलसुपर बांध से पानी लेकर जयपुर को रोजाना पेयजल की सप्लाई की जा रही है। इस भेदभाव की ओर कई बार जनप्रतिनिधियों और प्रशासनिक अधिकारियों का ध्यान आकर्षित किया गया, लेकिन आज तक भी भेदभाव समाप्त नहीं हुआ है। याचिका में सवाल उठाया गया है कि जब बीसलपुर बांध से जयपुर को रोजाना सप्लाई की जा सकती है तो फिर अजमेर को क्यों नहीं? सरकार ने बांध से पानी को जयपुर ले जाने के लिए तो अनेक योजनाएं बना दी, जबकि अजमेर के लिए अतिरिक्त योजना नहीं बनाई गई। यही वजह है कि अजमेर में शहरी क्षेत्र में दो-तीन दिन में तथा ग्रामीण क्षेत्रों में दस दिन में एक बार पेयजल की सप्लाई हो रही है। याचिका में कहा गया है कि जयपुर को बांध से पानी सप्लाई पर ऐतराज नहीं है, लेकिन पहले अजमेर की मांग पूरी की जाए। ऐसा नहीं होना चाहिए कि की मांग को अधूरा रख कर जयपुर में पेयजल की सप्लाई की जाए। याचिका के साथ आरटीआई में प्राप्त दस्तावेज भी संलग्न किए गए हैं, जिनसे साफ पता चलता है कि बीसलपुर बांध के पानी को लेकर भेदभाव हो रहा है। याचिका में आग्रह किया गया कि अजमेर जिले में मांग के अनुरूप पेयजल की सप्लाई सुनिश्चित की जाए। अब जब बीसलपुर बांध इस बार क्षमता के अनुरूप भर गया है तो अभी से ही भेदभाव को समाप्त करवाया जाए। बीसलपुर बांध का जो पानी ओवरफ्लो हो रहा है उसे भी अजमेर के तालाबों में डालने की योजना बनाई जाए। जयपुर में पेयजल के कई विकल्प हैं, जबकि अजमेर जिले के लोग पूरी तरह बीसलपुर बांध पर ही निर्भर हैं। बीसलपुर बांध की दूरी 132 किलोमीटर है। पाइप लाइन के जरिए बांध से पानी को अजमेर तक लाया जाता है। याचिका के संबंध में और कोई जानकारी अथवा सुझाव देने के लिए मोबाइल नम्बर 7042767297 पर एडवोकेट अल्पना शर्मा से संवाद किया जा सकता है। 
एस.पी.मित्तल


अफवाहों पर कतई ध्यान न दें:डीजीपी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में इन दिनों बच्चा चोर समझकर भीड़ लोगों के साथ मारपीट कर रही है। एक-दो नहीं बल्कि कई ऐसे घटनाएं रोज सामने आ रही है। इस घटना में कई निर्दोष लोग घायल हैं, तो कुछ लोगों की जान भी चली गई है। रोज बढ़ रही घटनाओं से उत्तर प्रदेश पुलिस परेशान हो चुकी है।बढ़ती घटनाओं को देखते हुए पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने लोगों से अपील की है कि अफवाहों पर कतई ध्यान न दें, किसी भी दशा में कानून अपने हाथ में न लें और न ही हिंसा के भागीदार बनें। 


लगातार बढ़ रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर उन्होंने पुलिस को भी सक्त निर्देश दिए हैं। डीजीपी ओपी सिंह ने अफवाह और हिंसा फैलाने वालों पर रासुका के तहत कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। यूपी पुलिस द्वारा जारी एक ट्वीट वीडियो में ओपी सिंह ने कहा कि आज मैं आपका ध्यान एक गंभीर अफवाह की ओर दिलाना चाहता हूं। प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में असमाजिक तत्व बच्चा चोरी की अफवाह फैला रहे हैं, जिससे हिंसा की घटनायें बढ़ रही है। जांच में हिंसा की घटनाओं में बच्चा चोरी की बात प्रमाणित नहीं हुई है। मेरी आपसे अपील है कि अफवाहों पर कतई ध्यान न दें, किसी भी दशा में कानून अपने हाथ में न लें और न ही हिंसा के भागीदार बनें। 


उन्होंने लोगों से अपील की कहा कि अगर आप को इस संबंध में कोई जानकारी मिलती है, तो तत्काल 100 नंबर पर पुलिस को सूचना दें। अब तक बच्चा चोरी की अफवाह फैलाने और हिंसा करने वाले लोगों पर सख्त कार्रवाई करते हुये 82 व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है और ऐसे तत्वों के खिलाफ रासुका की कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। 
डीजीपी ने कहा कि सोशल मीडिया पर भी इस तरह की अफवाह पर ध्यान न दें और बच्चा चोरी के संबंध में भ्रामक सूचना,अफवाह पर विश्वास न करें और जिम्मेदार नागरिक की तरह यूपी पुलिस की सहायता लें।
 


डेढ़ क्विंटल गांजे के साथ तस्कर गिरफ्तार

जशपुर | छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले के दुलदुला थाना क्षेत्र में पुलिस ने डेढ़ क्विंटल से ज्यादा की गांजे की खेप को जप्त किया है | पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी कि गांजा बेचने का कारोबार धड़ल्ले से चल रहा है | छत्तीसगढ़ से लगे झारखडं और ओडिसा के सरहदी क्षेत्रो से तस्कर बड़ी बड़ी खेपो को छोटे छोटे रूप में  राज्य में प्रवेश करा रहे है, जिसके चलते पुलिस काफी चौकस बरती और तीन तस्करो को धर दबोचा | जप्त किये गए गांजे की कुल कीमत लगभग 29 लाख 40 हजार रुपए बताई जा रही है | पुलिस ने दो आरोपियों को मौके से गिरफ्तार किया है | दोनों तस्कर बिहार के रहने वाले बताए जा रहे हैं |पूछताछ करने पर आरोपियों ने अपना नाम रवि कुमार यादव और मदन सिंह  बताया है | पुलिस कल दोनों को कुनकुरी न्यायालय में पेश करेगी | छत्तीसगढ़ राज्य के सरहद से सटे उड़ीसा और झारखंड की सीमा पर सशस्त्र पुलिस बल दिन और रात एक कर आने जाने वाले गाड़ियों और लोगो पर कड़ी निगरानी रखे हुए है | पुलिस के हत्थे चढ़े तस्करो के मुताबिक गांजे का एक हिस्सा छत्तीसगढ़ में खपाया जाता है और बाकी का नागपुर से मुंबई पहुंचाई जाती है | फिर वहां से समुद्री मार्ग से गोवा भेजा जाता है | 


पूर्व डीएम,3आईएएस भ्रष्टाचार में शामिल

बुलंदशहर के पूर्व डीएम अभय सिंह तीन आईएएस भ्रष्टाचार में शामिल


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अवैध खनन मामले में बुलंदशहर के पूर्व जिलाधिकारी अभय सिंह समेत तीन आईएएस भ्रष्टाचार में लिप्त पाए जाने की खबर है। बताया जा रहा है कि सीबीआई ने अपने जांच में आईएएस अभय सिंह, विवेक कुमार और डीएस उपाध्याय को प्रथम दृष्टया भ्रष्टाचार में शामिल पाया है। सीबीआई ने इस मामले में अपनी गोपनीय रिपोर्ट शासन को भेज दी है।


गौरतलब है कि सीबीआई ने अवैध खनन मामले में पिछले महीने 10 जुलाई को तीनों आईएएस अफसरों के यहां छापेमारी की थी। इस छापेमारी के बाद शासन ने तीनों को इनके पदों से हटाते हुए प्रतीक्षारत कर दिया था। अब माना जा रहा है कि सीबीआई की गोपनीय रिपोर्ट के बाद अब तीनी अफसरों के खिलाफ अन्य कार्रवाई भी हो सकती है।बता दें 10 जुलाई को सीबीआई की टीम ने बुलंदशहर, लखनऊ, फतेहपुर, आजमगढ़, प्रयागराज, नोएडा, देवरिया समेत यूपी के 12 ठिकानों पर छापेमारी की थी। इस दौरान बुलंदशहर के डीएम रहे अभय सिंह के घर से सीबीआई ने 47 लाख रुपए कैश बरामद किये थे। आजमगढ़ के सीदो डीएस उपाध्याय के घर से भी सीबीआई को 10 लाख रुपए कैश बरामद हुए थे। वहीं लखनऊ में कौशल विकास निगम के एमडी विवेक कुमार के घर से भी सीबीआई ने अहम दस्तावेज बरामद किए थे। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक अभय सिंह और डीएस उपाध्याय घरों से मिले नकदी के बारे में संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए हैं। वहीं विवेक कुमार के जवाब से भी सीबीआई संतुष्ट नहीं है।


बेटी के पांव में बेड़ियां डाल,बांधकर रखा

अमृतसर। नशा नाश कर देता हैं, यह कहावत तो आपने सुनी ही होंगी।जी हाँ नशा सच में इंसान को बर्बाद कर देता हैं। नशे से सिर्फ वही इंसान बर्बाद नहीं होता जो की नशा करता हैं बल्कि उससे जुड़े लोगों का भी जीवन जीना दूभर हो जाता हैं। आज के समय में युवा पीढ़ी में नशे की लत तेज़ी से बढ़ रही है। ऐसा की एक मामला आज हम आपको बताते जा रहे जिसे सुनने के बाद आपके भी रौंगटे खड़े हो जायेंगे। बताते चले यहाँ एक महिला ने अपनी बेटी की पांव में बेड़ियां डाल उसे बेड से बांधकर रखा है।


बताते चले माँ नहीं चाहती कि उसकी बेटी दूसरों की तरह बाहर घूमने जाए या फिर अपने दोस्तों से घुले-मिले। लेकिन इस मां ने किसी दुर्भावना से ग्रसित होकर ऐसा नहीं किया बल्कि उसने ऐसा किया है अपनी बेटी की जिंदगी बचाने के लिए। ये सुनने में अजीब लगेगा लेकिन ये सच है अमृतसर के एक घर में एक महिला ने अपनी बेटी को बिस्तर से बांध कर इसलिए रखा है ताकि वो बाहर जाकर फिर से ड्रग्स ना लेने लगे। वो ड्रग्स लेने की अपनी बेटी की आदत को छुड़ाना चाहती है।


खबरों की माने तो हालांकि अपनी बेटी को बेड़ियों में जकड़ने से पहले उसने पंजाब सरकार, और नशा मुक्ति केंद्र से मदद मांगी थी कि वो उनकी बेटी की इस बुरी लत को छुड़ाने में मदद करें। जानकारी के लिए बताते चले बीते  मंगलवार (27 अगस्त, 2019) को अमृतसर के सांसद और कांग्रेस नेता गुरजीत सिंह औजला ने अपने संसदीय क्षेत्र का दौरा कर इस महिला से मुलाकात की और उन्हें चिकित्सीय सहायता उपलब्ध कराने का भरोसा भी दिया है।कांग्रेस सांसद ने महिला से मुलाकात के बाद कहा कि 'यह एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है। मैंने चिकित्सकों से कहा है कि वो उनकी बेटी का इलाज उसके घर पर ही करें।'लड़की की मां ने बताया कि उन्होंने अपनी बेटी को तीन बार सरकारी नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती कराया था, लेकिन वहां 3-4 दिन बाद उनकी बेटी को वापस भेज दिया जाता था। लड़की की मां ने सवाल उठाया कि ड्रग्स के नशे में डूबा रहने वाला इंसान 3-4 दिनों में कैसे ठीक हो सकता है? बहरहाल अब अपने सांसद से मिलने के बाद इस महिला को अपनी बेटी के ठीक हो जाने की काफी उम्मीद है।


पात्रता अनुसार योजनाओं का मिले लाभ

गौतम बुद्ध नगर। उत्तर प्रदेश शासन के निर्देश के क्रम मे सभी पात्र व्यक्तियों को पेंशन की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए जिलाधिकारी श्री बीएन सिंह के निर्देशन मे जनपद गौतबुद्दनगर के कम्युनिटी सेन्टर, सेक्टर- 20, नोएडा मे कल दिनांक 28-08-2019 को एकीकृत पेंशन शिविर का आयोजन किया गया। शिविर आयोजन से पूर्व शिविर की तिथि, स्थान ,एवम उद्देश्यों का व्यापक प्रचार प्रसार  जनसामान्य मे निरन्तर  किया गया। शिविर मे वृद्धावस्था पेंशन के 12 एवं निराश्रित महिला पेशंन के 26 एवं दिव्यांग पेंशन के 01 आवेदक,इस प्रकार कुल 39 आवेदक जिनके के सभी अभिलेख पूर्ण थे ,के आवेदन पत्र आनलाइन कराकर पेशंन स्वीकृति प्रक्रिया प्रारम्भ की गई। इसके अतिरिक्त शिविर मे उपस्थित सेक्टर वासियों को दिव्यांग पेंशन ,वृद्धावस्था पेंशन, निराश्रित महिला पेशन (विधवा पेशंन)एवं मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना,राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना,दिव्यांग जनो हेतु सहायक उपकरण योजना एवं विभिन्न प्रकार की छात्रवृत्ति योजनाओं की जानकारी दी गयीं।अगला पेशंन शिविर दिनांक 30.08.19 को विकास खंड बिसरख परिसर मे आयोजित  किया जाएगा।यह जानकारी जिला समाज कल्याण अधिकारी आनंद कुमार सिंह द्वारा दी गयीं। अधिक जानकारी के लिए शिविर की फोटो देखे।


रेलवे में विभिन्न पदों पर बंपर भर्ती

नई दिल्ली। नॉर्दन रेलवे, आईसीएफ चेन्नई, वेस्टर्न एंड साउथ ईस्टर्न रेलवे, डीजल लोकोमोटिव वर्क्स वाराणसी, साउथ ईस्ट सेंट्रल रेलवे, नार्थ ईस्ट फ्रॉन्टियर रेलवे कई पदों पर नियुक्तियों के लिए भर्तियां कर रहा है। इच्छुक और अर्ह अभ्यर्थियों विभिन्न पदों पर होने वाली भर्तियों से पूरी डिटेल्स विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट http://www.rrbcdg.gov.in/ पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं। रेलवे के किस जोन में कितने पदों पर भर्तियां की जाएंगी, इसकी पूरी जानकारी विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर दी गई है।
नॉर्दन रेलवे, आईसीएफ चेन्नई, वेस्टर्न एंड साउथ ईस्टर्न रेलवे, डीजल लोकोमोटिव वर्क्स वाराणसी सहित अन्य पदों पर आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों को सलाह है कि वो विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर अंतिम तारीख से पहले पहले आवेदन करें। क्योंकि अंतिम तारीख के बाद किसी भी अभ्यर्थी का फॉर्म विभाग द्वारा एक्सेप्ट नहीं किया जाएगा। नॉर्दन रेलवे लेवल-1 मल्टी टॉस्किंग स्टाफ के कुल 118 पदों पर नियुक्तियां कर रहा है। इन भर्तियों से जुड़ी अधिक डिटेल्स अभ्यर्थी विभाग की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं। इंटीग्रल कोच फैक्ट्री चेन्नई कई पदों पर भर्तियों के लिए आवेदन जारी कर दिया है। इन पदों पर आवेदन की आखिरी तारीख 9 सितंबर 2019 है।


केजीएफ 2 की शूटिंग पर कोर्ट की रोक

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर संजय दत्त लंबे ब्रेक के बाद अपनी अपकमिंग 'केजीएफ 2' में नजर आने वाले हैं। लेकिन अब फिल्म को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई हैंl जिससे संजू बाबा के फैंस बहुत बड़ा धक्का लगा हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक ज्यूडीशियल मजिस्ट्रेट फर्स्ट क्लास कोर्ट ने फिल्म की शूटिंग पर रोक लगा दी है। खबर के मुताबिक फिल्म की शूटिंग इस वक्त कोलर फील्ड में साइनाइड हिल्स पर चल रही थीl जिसकी वजह से वहां के लोगों को दिक्कत हो रही थी। लोगों ने कोर्ट में याचिका दाखिल की जिसके बाद कोर्ट ने केजीएफ के मेकर्स को अंतरिम ऑर्डर भेजकर फिल्म की शूटिंग पर रोक लगा दी। एक स्थानीय व्यक्ति ने बताया कि केजीएफ की शूटिंग की वजह से यहां का वातावरण प्रभावित हो रहा थाl जिसके बाद कोर्ट में याचिका दाखिल की गई। अब कोर्ट ने मेकर्स को ऑर्डर दिया है कि वो फिल्म की शूटिंग रोक दें। इसलिए फिलहाल फिल्म की शूटिंग रोक दी गई है। फिल्म की शूटिंग इसी महीने की शुरुआत में शुरू हुई थी। हालांकि इस बार में अभी तक मेकर्स का कोई रिएक्शन सामने नहीं आया है। इस मामले की सुनवाई 23 सितंबर को होगी। साउथ के सुपरस्टार यश और संजय दत्त की फिल्म 'केजीएफ 2' को रिलीज होने में अभी लगभग दो साल हैं। कुछ दिन पहले ही फिल्म का पोस्टर रिलीज किया जिसके बाद ये साफ हो गया कि फिल्म में संजय दत्त भी लीड रोल में नजर आएंगे। 'केजीएफ 2' में संजय दत्त अधीरा का किरदार निभाएंगे। इसका पोस्टर भी संजय दत्त के जन्मदिन के मौके पर ही रिलीज किया गया था। प्रशांत नील के डायरेक्शन में बन रही इस फिल्म में श्रीनिधि शेट्टी और सरन शक्ति भी महत्वपूर्ण किरदार में दिखाई देंगे। बता दें कि संजय दत्त दिल्ली में हैंl वो अपनी अपकमिंग फिल्म प्रस्थानम के ट्रेलर के लिए दिल्ली आए हैं। ट्रेलर 29 जुलाई यानी आज रिलीज होने वाला है। प्रस्थानम में संजय के साथ मनीषा कोईराला, जैकी श्रॉफ, चंकी पांडेय, अमायरा दस्तूर और अली फ़ज़ल मुख्य भूमिकाओं में नज़र आएंगे। निर्देशक देवा के मुताबिक़, हिंदी और तेलुगु प्रस्थानम में ज्यादा फर्क नहीं किया गया हैl


50 हजार कश्मीरी युवाओं को नौकरी

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में धारा-370 हटाए 24 दिन हो चुके हैं। लगातार जारी प्रतिबंधों के बीच राज्य में पचास हजार सरकारी नौकरियों का ऐलान किया गया है। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दावा किया कि पिछले 24 दिन से जारी प्रतिबंधों में कश्मीर में एक भी आम व्यक्ति की जान नहीं गई है। जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक प्रेसकांफ्रेंस कर आने वाले दिनों में राज्य के लोगों के लिए 50 हजार नौकरियों की घोषणा की। उन्होंने जम्मू-कश्मीर के युवाओं से नौकरियों की तैयारी में पूरे जोश से जुटने की अपील करते हुए कहा कि आने वाले 2 से 3 महीनों में ये नियुक्तियां कर ली जाएंगी। साथ ही उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लिए केंद्र सरकार जल्द ही बड़ा ऐलान करेगी।


पोस्टमास्टर ने गबन किए लाखों रुपया

कोंडागांव। डाक विभाग के पोस्टमास्टर द्वारा खाताधारकों के फर्जी हस्ताक्षर कर लाखों रूपये गबन करने का मामला प्रकाश में आया है। जिले के बड़ेराजपुर ब्लॉक के विश्रामपुरी में पदस्थ पोस्टमास्टर सुनील कुंभकार ने कई हितग्राहियों के द्वारा अपने खातों में जमा की गई राशि निकाल लिया है। मामला 27 सितंबर 2018 को उजागर हुआ था। इस मामले की शिकायत अप्रैल 2019 में डाक विभाग के उच्चाधिकारियों से की गई थी। अधिकारियों ने शिकायतकर्ता हितग्राहियों को आश्वासन देते कहा था कि सप्ताह भर के अंदर जांच पूर्ण होते ही उनकी राशि वापस कर दी जाएगी। जांच के चार माह पश्चात भी विभाग चुप्पी साधे हुए है। इससे हितग्राहियों में आक्रोश बढ़ रहा है।


मासूम से 'दुष्कर्म' का आरोपी गिरफ्तार

पुलिस ने दिखाई सख्ती तो कबूला अपराध


दुर्ग। चार साल की अबोध बच्ची के साथ हैवानियत करने वाले आरोपी को पुलिस ने बुधवार को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। दुष्कर्मी प्रकाश कुर्रे को पुलिस ने गिरफ्तार करके कोर्ट में पेश किया। सुपेला निवासी आरोपी पेशे से ऑटो चालक है। हैवान 26 अगस्त को बच्ची का अपहरण कर उसे सूनसान जगह पर ले गया। जहां उसके साथ दरिंदगी की और अपनी कालीकरतूत को छुपाने के लिए शहर से 17 किलोमीटर दूर सेलूद के चौराहे के पास छोड़कर भाग गया। बच्ची रात 9 बजे उतई पुलिस को मिली थी। मासूम बच्ची ने पुलिस को बताया था कि उसे ऑटो से भूत लेकर गया था। परिजन का कहना था कि सुपेला निवासी एक ऑटो चालक दोपहर में हर रोज सुलभ आता है। ऑटो चालक के चेहर पर बड़े बड़े मुहांसे हैं। इसलिए बच्चे उसे भूत कहकर बुलाती हैं। ऑटो चालक बच्चों को चाकलेट बिस्कुट देता है। इसलिए बच्चे उससे घुल मिल गए। पुलिस ने ऑटो चालक को संदेह केआधार पर हिरासत में ले लिया था। बाद में पूछताछ के दौरान उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया । हैवानियत की शिकार हुई बच्ची का पिता ई-रिक्शा चलाता है। मां घरों में झाड़ू पोंछा करती है। पुलिस को पहले ही संदेह था कि जिसने बच्ची का अपरहण किया वह बच्ची के माता पिता के बारे में जानता है कि काम से कब लौटते हैं। सोमवार को शाम 6 बजे बच्ची की मां काम से घर लौटी तो बेटी नहीं दिखी। तब उसने सोचा कि शायद बच्ची को उसके पिता ई-रिक्शा में घुमाने ले गया होगा। वह घर के काम में जुट गई। रात करीब 10 मासूम का पिता घर लौटा तो वह अकेला था। पति को अके ले देख पत्नी ने बेटी के बारे में पूछा तो उसने बताया कि जब वह शाम 4 बजे ई-रिक्शा लेकर घर से निकला था तब बच्चे घर के बाहर खेल रहे थे। घंटे भर मासूम बच्ची को खोजने के बाद किसी तरह की जानकारी नहीं मिली। तब परिजन 26 अगस्त की रात 11 बजे गुमशुदगी दर्ज करवाने सिटी कोतवाली पहुंचे। पुलिस ने तत्काल कंट्रोल रूम को सूचना दी। इधर घंटेभर बाद सिटी कोतवाली पुलिस को जानकारी मिली कि उतई पुलिस ने एक मासूम को जिला अस्पताल में भर्ती कराया है। पुलिस तत्काल परिजनों को लेकर अस्पताल पहुंची। परिजन ने बच्ची के अपना बताया तब पुलिस ने उनके बच्ची को सौंप दिया था।


विकास कार्यों में पारदर्शिता का अभाव

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री के आदेशो का पारदर्शिता से नही किया जा रहा पालन

झाँसी। जनपद कस्‍बा चिरगांव ब्लॉक अधिकारी ग्राम पंचायत अधिकारी ग्रामीण क्षेत्रो का भृमण नही किये जाने पर ग्रामीण क्षेत्रो की समस्याओ का समांधान नही हो पा रहा है। उदाहरण ग्राम ध्वानी ओपरा मॉर्ग की सडक सन 2014 से क्षत विक्षत बढे बढे गड्ढे छात्र एव छात्राओं को विधालय आने जाने में हो रही परेशानी ऐसा ही पच्चरगड़ ध्वानी बाबरगढ़ आदि ग्रामीण क्षेत्रो बनवाये गये। हरिजन आदिवासी आवास की शिकायत जिलाधिकारी झाँसी में धरना प्रदर्शन के उपरान्त सरपंच द्वारा आदिवासियों पर दबाब बनाकर राजीनामा हस्ताक्षर कॉपी शासन को भेज दी गयी। ब्लॉक अधिकारी पंचायत अधिकारी सरपंच एव सचिव द्वारा किया गया। भृष्ठाचार कि जांच होनी चाहिए इन आवासों की जांच सुनिश्चित  करवाई जाये। दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही कर इनके खातों से रिकवरी वसूल की जाये। वर्तमान भाजापा पार्टी एव उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री के कार्यो की पारदर्शिता को ब्लॉक अधिकारी सभी जांचे दबाने का कार्य कर रहे है। सन 2017-18-19 में जिस-जिस प्रधान एव सचिव द्वारा करवाये गये कार्यो की एक गुप्त जांच करवाये जाने की आवाश्यकता है। उत्तर प्रदेश शासन का पैसा किस किस मद में खर्च किया गया है। जिस मद में खर्च किया गया उस कार्य की मानक गुडवत्ता एव उस कार्य का उपयोग क्षेत्र की जनताको मिल रहा है कि नही। चिरगांव ब्लॉक से वितरण की जाने वाली धनराशि की एक खुफिया विभाग द्वारा जांच टीम गठित की जाए।जो राष्ट्रहित देशहित जनहित किसानहित में हितकर होगी।


उमेश शर्मा


'हरजीत सिंह पप्पू' को यूएस मे सम्मान

जगदलपुर। संगीत व कला के क्षेत्र में बरसों से सक्रिय हरजीत सिंह पप्पू के रचनात्मक भूमिका के लिए यू ट्यूब की ओर से उन्हें 19 अगस्त 2019 को यू ट्यूब क्रिएटिव अवार्ड सिल्वर बटन से नवाजा गया है। यू ट्यूब में डाले गए उनके म्यूजिक को पसंद करने वालों की संख्या करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है। वहीं 1 लाख 27 से अधिक सब्सक्राइबर हैं और प्रतिदिन 700 से 1000 बढ़ रहे हैं। यू ट्यूब के मानक के अनुरूप रेंक हासिल करने पर उन्हें यह सम्मान दिया गया है। यह अवार्ड संभाग में पहली बार किसी को दिया गया है।   अल्प समय में लोकप्रियता की वजह


यूं तो यूट्यूब में हज़ारों लोगों ने म्यूजिक तैयार कर अपलोड किया है , लेकिन हरजीत ने वो कर दिखाया जो अपने आप में अनोखा है। उन्होंने हर गीत का इंस्ट्रूमेंटल, जिसमें तबला, ढोलक, गिटार, बेस गिटार,ड्रम, परकुशन, बांसुरी,वायलिन, सेक्सोफोन,आदि वाद्ययंत्रों को अकेले ही सिंथेसाइजर, ऑर्गन पर बजाया। जबकि फिल्मजगत में इसके लिए कम से कम 100 कलाकारों की ज़रूरत पड़ती है। उनकी इस खूबी के चलते देश दुनिया के संगीतप्रेमियों ने उनके चैनल को अत्यधिक पसंद किया। उनकी इस उपलब्धि से बस्तर गौरवान्वित हुआ है। साथ ही बस्तर के युवा भी उनसे प्रेरणा ले रहे है।


सपा:हमीरपुर से मनोज को दिया मौका

हमीरपुर। हमीरपुर विधानसभा उपचुनाव के लिए समाजवादी पार्टी (सपा) ने डाॅ. मनोज कुमार प्रजापति को अपना उम्मीदवार बनाया है। इस बीच सपा ने फिरोजाबाद जिला कार्यकारिणी और वहां की चारों विधानसभा कार्यकारिणी को भंग करते हुए नई कार्यकारिणी बना दी है। सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बुधवार को यहां बताया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज उत्तर प्रदेश के हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव के लिए समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार की घोषणा कर दी है। इस उपचुनाव में डाॅ. मनोज कुमार प्रजापति पार्टी के उम्मीदवार बनाए गए हैं।


बसपा:अब्बास की जगह,कयूम को मौका

मऊ। घोसी विधानसभा सीट से भाजपा विधायक फागू चौहान को बिहार प्रदेश का राज्यपाल बनाए जाने के बाद इस सीट पर उपचुनाव जीतने के लिए सभी दलों ने अपना कमर कस ली है। इसी क्रम में घोसी सीट पर पिछले बार महज सात हजार वोटों से हारे बाहुबली मुख्तार अंसारी के बेटे अब्बास अंसारी की जगह बहनजी ने घोसी के बसपा नेता अब्दुल कय्यूम अंसारी को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया है। कय्यूम अंसारी वर्तमान में घोसी नगर पंचायत के चेयरमैन के पति हैं।


घोसी विधानसभा क्षेत्र के करीमुद्दीनपुर दक्षिण मोहल्ला निवासी अब्दूल कय्यूम अंसारी पेशे से बुनकर हैं। समाजवादी पार्टी के जिला सचिव पद से अपना राजनैतिक सफर शुरू करने के बाद सपा में जिला उपाध्यक्ष भी रहे। साथ ही सहकारिता विभाग में मनोनीत राज्य मंत्री पद की भी जिम्मेदारी संभाली। वर्तमान में वह घोसी नगर पंचायत अध्यक्ष के चेयरमैन पति हैं। इसके बाद बहुजन समाज पार्टी ने अपना उम्मीदवार घोषित किया है।


अध्यक्ष पद के लिए घमासान:मध्य प्रदेश

शेख नसीम


भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस में घमासान मचा हुआ हैं अध्यक्ष पद के लिए कई चेहरे उभरकर सामने आ रहे हैं लेकिन तय किसी का नही हो पा रहा हैं।


मध्य प्रदेश कांग्रेस में इस समय तीन खेमे सबसे ताकतवर हैं और मध्य प्रदेश कांग्रेस की राजनीति इन्ही खेमो के आसपास घूमती हैं। पहला खेमा हैं मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ का दूसरा खेमा हैं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह का और तीसरा खेमा हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया का। कमलनाथ गुट ने मध्य प्रदेश के गृहमंत्री बाला बच्चन का नाम आगे बढ़ाया हैं वही दूसरी तरफ सिंधिया गुट चाहता हैं हैं की मध्य प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया को बनाया जाए और इसके लिए मध्य प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री इमारती देवी सिंधिया को अध्यक्ष बनाए जाने की मांग पार्टी हाई कमान से कर रही हैं।कमलनाथ गुट का कहना हैं की बाला बच्चन आदिवासी चेहरा हैं इसीलिए लिए उनको अध्यक्ष बनाया जाए तो दूसरी तरफ सिंधिया गुट ने नेहले पे देहला मारते हुए बाला बच्चन के सामने उमंग सिंघार को मैदान पर उतार दिया हैं और दलील दी हैं की अगर आदिवासी चेहरे को ही मध्य प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाना हैं तो उमंग सिंघार भी आदिवासी चेहरा हैं उनको अध्यक्ष बनाया जाए।


मध्य प्रदेश के कमलनाथ गुट और सिंधिया गुट के टकराव की वजह से दिग्विजय सिंह गुट ने पूर्व नेता प्रतिपक्ष और अर्जुन सिंह के बेटे अजय सिंह का नाम आगे बढ़ाया हैं इसके अलावा रामनिवास रावत,मंत्री जीतू पटवारी,गोविंद सिंह और शोभा ओझा के नाम भी अध्यक्ष पद की दौड़ में आगे चल रहे हैं अब पार्टी हाई कमान किसके नाम पर मोहर लगाती हैं ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी लेकिन ये तो नज़र आ रहा हैं की कांग्रेस के लिए मध्य प्रदेश अध्यक्ष चुनना आसान नही होगा।


दंपत्ति ने पुलिस स्टेशन में आग लगाई

मथुरा। उत्तर प्रदेश के मथुरा से दिल दहला लेने वाला वाकया सामने आया है, जहां पुलिस स्‍टेशन के भीतर एक दंपति ने खुद को आग लगा ली। दंपति ने पुलिस पर अपनी शिकायत को लेकर तत्‍परता नहीं दिखाने और इस दिशा में कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया। इस घटना का वीडियो भी सामने आया है, जिसके बाद तीन पुलिसकर्मियों को सस्‍पेंड कर दिया गया है। दंपति आग में बुरी तरह झुलस गए है, जिसके बाद उन्‍हें नई दिल्‍ली के सफदरजंग अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है।
मामला सुरीर पुलिस थाना क्षेत्र का है, जहां दंपति ने खुद को आग लगा ली। इसका वीडियो सामने आया है, जिसमें वे आग से झुलसने के कारण चीखते-चिल्‍लाते देखे जा रहे हैं, जबकि सादी वर्दी में तैनात पुलिसकर्मी आग की लपटों को बुझाने की कोशिश करते दिख रहे हैं। पुलिस का कहना है कि आग लगने के कारण दंपति करीब 60 फीसदी तक झुलस गए। उन्‍हें पहले स्‍थानीय अस्‍पताल में भर्ती कराया गया, जहां से उन्‍हें नई दिल्‍ली के सफदरजंग अस्‍पताल भेज दिया गया। 
आरोप है कि सुरीरकलां गांव के कुछ दबंग पीड़‍ित दंपति की जमीन पर कब्‍जा करने की कोशिश कर रहे थे। उन्‍होंने उन लोगों से कई बार मारपीट भी की थी। पीड़‍ितों ने इस बारे में पुलिस को शिकायत दी थी, लेकिन उनकी शिकायत पर कोई कार्रवाई नहीं हुई, बल्कि पुलिस ने हर बार उन्‍हें ही डरा-धमकाकर वापस भेज दिया। इन सबसे निराश दंपति ने पुलिस स्‍टेशन में खुद को आग लगा ली, जिसमें वे बुरी तरह झुलस गए। बताया जाता है कि वे अपने घर से ही खुद पर मिट्टी का तेल डालकर थाना पहुंचे और वहां आत्‍मदाह का प्रयास किया।
दंपति ने जैसे ही खुद को आग लगाई, वहां मौजूद पुलिसकर्मी उन्‍हें बचाने दौड़े, लेकिन तब तक वह बुरी तरह झुलस चुके थे। आग की लपटों के बीच पीड़ित दंपति को यह कहते सुना गया कि उसने कई बार शिकायत की, लेकिन किसी ने उनकी नहीं सुनी। यहां तक कि दारोगा और 'बड़े साहब' ने भी उसे डांटकर भगा दिया। मामले की गंभीरता को देखते हुए इस सिलसिले में तीन पुलिसकर्मियों को सस्‍पेंड कर दिया गया है। इस मामले में पीड़‍ितों की शिकायत पर पुलिसकर्मियों की उदासीनता व लापरवाही की जांच की जा रही है।


पर्यटन को बढ़ाने के लिए 'विशेष' प्रयास

इन्दौर। कलेक्टर श्री लोकेश कुमार जाटव की अध्यक्षता में आज कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में इन्दौर टूरिज्स प्रमोशन काउंसिल की बैठक संपन्न हुई। इस अवसर पर कलेक्टर श्री जाटव ने कहा कि जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये विशेष प्रयास किये जायेगें। जिले में एयर और ट्रेन कनेक्टिविटी को देखने हुए पर्यटन की व्यापक संभावनाएं हैं। जिला प्रशासन ग्रामीण पर्यटन को भी बढ़ावा देगा। इसके लिये शीघ्र ही आवश्यक कदम उठाये जायेगें। इस दिशा में आज इन्दौर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन, धार्मिक संगठनों और स्वयं सेवी संगठनों से प्राप्त सुझावों को अमल में लाया जायेगा। जिले में पर्यटन का बढ़ावा देने  के लिये पर्यटन बस शुरू की जायेगी। यह बस राजबाड़ा, लालबाग, चोरल, वांचु पाइंट, पातालपानी, उज्जैयनी, बामनिया कुंड़, कुशलगढ़, महू, जामगेट, शीतला माता फॉल, जानापाव आदि जगहों पर जायेगी। बस संचालन के लिये रूट चार्ट और बस सुविधाएं एआईसीटीसीएल उपलब्ध करायेगा।
उन्होने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये बांस कुटीर और शौचालय बनाये जायेगें। पर्यटन से जुड़े लोगों को प्रशिक्षण भी दिया जायेगा। बैठक में टूरिस्ट बस एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने सुझाव दिया कि सराफा और कांच मंदिर का भी पर्यटन गतिविधियों से जोड़ा जाये। इसी प्रकार जिला प्रशासन द्वारा छपने वाले कॉफी-टेबल बुक में इन्दौर के गणगौर महोत्सव, गणेश विसर्जन की झांकियां और रंगपंचमी गैर के फोटो और इतिहास को भी शामिल किया जाये। टूरिस्ट बस में प्रशिक्षित गाइड की नियुक्ति की जाये। जानापाव पहाड़ी को धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाये। बामनिया कुंड़ और मेहंदी कुंड को भी पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाये। ग्राम रतीबी, केटनिया और डाबी में पर्यटन शिविर आयोजित किये जायें।
इस अवसर पर मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्रीमती नेहा मीना ने बताया कि कॉफी-टेबल छपवाने के लिये फोटो प्रतियोगिता का आयोजन किया गया है, ‍जिसकी प्रविष्टियां आमंत्रित करने की अंतिम तिथि 31 अगस्त 2019 निर्धारित की गई है। जिले में पर्यटन को बढ़ावा देने के बेरोजगारों को रोजगार के अवसर मिलेगें। आने वाले समय में जानपाव पहाड़ी पर धार्मिक गतिविधियां आयोजित की जायेगी, जिसमें ध्यान और योग भी शामिल हैं। पर्यटन केन्द्र पातालपानी के प्रवेश पर 10 रूपये प्रति व्यक्ति शुल्क लगेगा। यह राशि ग्राम पंचायत द्वारा पातालपानी की साफ-सफाई और रखरखाव पर खर्च की जायेगी। जिला प्रशासन द्वारा अगले माह वाटर स्पोर्ट्स का आयोजन किया जायेगा। चोरल में बर्ड वाचिंग सेंटर विकसित किया जायेगा।  
बैठक में जामगेट पर सुरक्षा और स्वच्छता, जानापाव का रखरखाव, वाटर स्पोर्ट्स, सिटी वॉक फेस्टिबल, इको-टूरिज्म विलेज आदि विषयों पर बिंदुवार चर्चा की गई। बैठक में एसडीएम महू श्री अंशुल गुप्ता, अपर आयुक्त श्री संदीप सोनी, पर्यटन विभाग अधिकारी और स्वयं सेवी संगठनों में प्रतिनिधि मौजूद थे।


अयोध्या:इमारत बनवाने वाला संदेहप्रद

नई दिल्‍ली। अयोध्या मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ में बुधवार को 14वें दिन की सुनवाई में राम जन्मभूमि पुनरुद्धार समिति ने बहस करते हुए कहा था। विवादित इमारत बनवाने वाला कौन था, इस पर संदेह है। मीर बाकी नाम का कोई बाबर का कोई सेनापति था ही नहीं। 3 गुंबद वाली वो इमारत मस्ज़िद नहीं थी।मस्ज़िद में जिस तरह की चीज़ें ज़रूरी होती हैं, वो उसमें नहीं थी।रामजन्मभूमि पुनरुद्धार समिति ने अपनी दलीलें रखते हुए ये भी कहा था कि तीन गुंबद वाली वो इमारत मस्जिद नहीं थी। मस्जिद में जिस तरह की चीज़ें ज़रूरी होती हैं, वो उसमें नहीं थी. समिति ने कहा कि  विवादित इमारत बनवाने वाला कौन था, इस पर संदेह है। मीर बाकी नाम का बाबर का कोई सेनापति था ही नहीं।


राम जन्मभूमि पुनरोद्धार समिति के वकील पीएन मिश्रा ने अपनी दलीलें रखते हुए तीन किताबों का ज़िक्र करते हुए कहा था कि आईने अकबरी, हुमायूंनामा में बाबर द्वारा बाबरी मस्जिद बनने की बात नहीं है। तुर्क-ए-जहांगीरी किताब में भी बाबरी मस्जिद के बारे में कोई जिक्र नही हैं। बाबर सिर्फ इस बात से वाकिफ़ था कि ज़मीन वक़्फ़ की है। पीएन मिश्रा ने कहा कि निकोलो मनूची ने एक किताब लिखी थी जो  इटालियन था और औरंगज़ेब का कमांडर था। सुप्रीम कोर्ट ने पूछा कि औरंगज़ेब का इटालियन कमांडर था? पीएन मिश्रा ने कहा कि-हां औरंगज़ेब का कमांडर इटालियन था। 
इससे पहले मंगलवार को 13वें दिन की सुनवाई में निर्मोही अखाड़ा की दलीलें पूरी होने के बाद रामजन्मभूमि पुनरुद्धार समिति की तरफ से पीएन मिश्रा पक्ष रखा था।मंगलवार सुबह सबसे पहले निर्मोही अखाड़ा की ओर से वकील सुशील जैन ने पक्ष रखा।निर्मोही अखाड़ा ने शेबेट के दावे पर तैयार अपने नोटस को पढ़ा।निर्मोही अखाड़ा ने याचिका भगवान की तरफ से मन्दिर के रखरखाव (मैनेजमेंट) के लिए दाखिल की थी।


जैन ने कहा था कि विवादित स्थल के अंदरूनी आंगन में एक मंदिर था वही जन्मभूमि का मंदिर है, वहां कभी कोई मस्जिद नही थी, मुसलमानों को मंदिर में जाने की इजाज़त नही थी, वह पर हिन्दू अपनी अपनी आस्था अनुसार पूजा करते थे.सुशील कुमार जैन ने कहा था कि रेवन्यू रिकॉर्ड से साफ है कि ज़मीन पर निर्मोही अखाड़े के अधिकार है। निर्मोही खड़ा के वकील सुशील कुमार जैन ने अपनी जिरह पूरी की।सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि आस्था प्रदर्शित करने के लिए स्कन्द पुराण का प्रयोग सद्भावपूर्वक होता है। लेकिन स्कन्दापुराण के माध्यम से जन्म स्थान के अस्तित्व को बताना सही नहीं।


पाक:मिसाइल 'गजनवी' का परीक्षण किया

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने अपने बैलिस्टिक मिसाइल गजनवी का गुरुवार को सफलतापूर्वक परीक्षण किया। सतह से सतह पर 290 से 320 किलोमीटर तक मार करने में सक्षम गजनवी मिसाइल 700 किलोग्राम विस्फोटक ले जाने में सक्षम है। 
पाकिस्तान का गजनवी मिसाइल का परीक्षण करना दुनिया को तनाव का संदेश देने की कोशिश मानी जा रही है। पाकिस्तान ने मिसाइल परीक्षण के लिए अपनी नौसेना को अलर्ट जारी करने के साथ ही कराची के तीन वायु मार्ग बंद कर दिए। पाकिस्तान के नागर विमानन प्राधिकरण ने 28 अगस्त को चार दिन (28 से 31 अगस्त) के लिए तीन वायु मार्ग बंद करने की घोषणा कर दी थी। भारत और पाकिस्तान के बीच समझौते के अनुसार किसी भी परीक्षण की सूचना कम से कम तीन दिन पूर्व देनी होती है। पाकिस्तान की ओर से इसकी सूचना पहले ही भारत को दी जा चुकी है। पाकिस्तान ने इसकी सूचना 26 अगस्त को भारतीय अधिकारियों से साझा कर दी थी।


अभी हाल ही में पाकिस्तान सरकार में मंत्री फवाद चौधरी ने टि्वटर पर ऐलान किया था कि पाकिस्तानी सरकार भारत के लिए सभी एयररूट बंद करने के फैसले पर विचार कर रही है। इसी के बाद खबर आई कि पाकिस्तान ने अपने कराची एयरस्पेस को तीन दिन के लिए बंद किया है, हालांकि इसमें उसने भारत के रूट की बात नहीं की थी।


मंत्रियों को 'प्रधानमंत्री' की नसीहत

नई दिल्ली -प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अपनी मंत्रिपरिषद के सदस्यों को निर्देश दिया कि वे ऐसे दावे करें जो पूरे हो सकें और मंत्रालयों में सलाहकारों की भूमिका में अपने रिश्तेदारों को नियुक्त नहीं करें। सूत्रों ने बताया कि केंद्रीय मंत्रिपरिषद की बैठक की अध्यक्षता करते हुए मोदी ने मीडिया और सार्वजनिक तौर पर गैरजरूरी टिप्पणियों का हवाला दिया और मंत्रियों से स्पष्ट तौर पर कहा कि वे केवल तथ्यों को बताएं या ऐसे दावें करें जो स्थापित हो सकें। मंत्रिपरिषद की बैठक में जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर भी चर्चा हुई। प्रधानमंत्री ने मंत्रियों से जम्मू-कश्मीर के लिए योजनाओं और परियोजनाओं पर काम करने को कहा। सूत्रों के मुताबिक अगले कुछ दिनों में जम्मू-कश्मीर के लिए करोड़ों रुपये के पैकेज का ऐलान किया जा सकता है।


प्रधानमंत्री ने मंत्रियों से यह भी कहा कि वे अपने संबंधित मंत्रालयों में या विभागों में सलाहकारों की भूमिका में अपने रिश्तेदारों को नियुक्त नहीं करें। शासन की 'गति' और 'दिशा' में सुधार करने के लिए मोदी ने कहा कि कैबिनेट मंत्रियों और राज्य मंत्रियों के बीच बेहतर समन्वय होना चाहिए। उन्होंने मंत्रियों से कहा कि उनका संवाद अपने मंत्रालयों के सचिवों जैसे शीर्ष अधिकारियों तक सीमित नहीं होना चाहिए। उनका संवाद पदक्रम में अपेक्षाकृत निचले स्तर के अधिकारियों, जैसे- संयुक्त सचिवों, निदेशकों और उप सचिवों से भी होना चाहिए ताकि इन अधिकारियों को लगे कि वे भी टीम का हिस्सा हैं।


समय पर दफ्तर न पहुंचने वाले मंत्रियों को दिया सख्त संदेश
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मंत्रियों को अधिकारियों को प्रोत्साहित और उत्साहित करना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि मंत्रियों को सुबह साढ़े 9 बजे तक दफ्तर पहुंच जाना चाहिए और कुछ मंत्रियों को उनके निर्देश पर ध्यान देने की जरूरत है और उन्हें यह करना चाहिए। मोदी ने कहा कि उन्होंने कई बार अपने कैबिनेट सहयोगियों को अनुशासन, समय की पाबंदी और काम करने की प्रतिबद्धता के संदर्भ में नेतृत्व करने के लिए कहा है। उन्होंने कहा कि शीर्ष मंत्री वक्त की पाबंदी करेंगे तो इसका सकारात्मक प्रभाव उनके संबंधित मंत्रालयों की रचनात्मकता और दक्षता पर और समूची सरकार के कामकाज पर भी पड़ेगा।


'जम्मू-कश्मीर के विकास के लिए योजनाओं पर काम करें मंत्री'
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर में विकास की पहलों पर जोर देते हुए बुधवार को केंद्रीय मंत्रियों से क्षेत्र के लिए योजनाओं और परियोजनाओं पर काम करने के लिए कहा। मोदी ने इसके साथ ही राज्य के उन अधिकारियों और छात्रों के साथ संवाद कायम करने का भी आह्वान किया जो वर्तमान समय में देश के विभिन्न हिस्सों में रह रहे हैं।


मंत्रिपरिषद की बैठक में शाह ने दिया जम्मू-कश्मीर पर प्रेजेंटेशन
सूत्रों ने कहा कि मोदी की अध्यक्षता में आयोजित केंद्रीय मंत्रिपरिषद की बैठक में गृहमंत्री अमित शाह ने कश्मीर की स्थिति पर एक प्रस्तुति दी और जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने के कदम के बारे में देर तक बोले। उन्होंने बताया, शाह ने कहा कि घाटी में स्थिति में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। घाटी में कई स्थानों पर सुरक्षा एवं संचार पाबंदियां हैं। उन्होंने पाबंदियों का बचाव करते हुए कहा कि यह व्यापक हित के लिए है। उन्होंने साथ ही इस बात पर जोर दिया कि संचार और लोगों की आवाजाही पर पूर्ण रोक नहीं है।


जम्मू-कश्मीर के लिए करोड़ों के पैकेज का हो सकता है ऐलान
शाह ने कहा कि पाबंदियां केवल कुछ स्थानों पर लागू हैं जहां सुरक्षा को खतरा है। सूत्रों ने कहा कि बैठक में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने उनके द्वारा हाल में घोषित सुधार के उपायों पर एक विस्तृत प्रस्तुति दी। उन्होंने कहा कि सरकार ने ये कदम उठाने से पहले सभी हितधारकों से मशविरा किया है। जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा इस महीने के शुरू में समाप्त किए जाने के बाद सरकार राज्य में 100 से अधिक केंद्रीय कानून लागू करने के वास्ते जरूरी आधारभूत ढांचा तैयार करने को जल्द ही करोड़ों रुपये के पैकेज ला सकती है। सूत्रों ने कहा कि हालांकि विभिन्न मंत्रालयों द्वारा दिए गए प्रस्तावों पर आधारित पैकेज वास्तव में कितनी राशि का होगा इसकी अभी गणना की जानी है। प्रस्ताव जल्द ही व्यय वित्तपोषण समिति को भेजा जाएगा और घोषणा किए जाने से पहले इसकी केंद्रीय कैबिनेट द्वारा जांच-पड़ताल की जाएगी।


स्वर्ण पदक जीतने वाली तीसरी भारतीय

नई दिल्ली। भारतीय युवा महिला निशानेबाज इलावेनिल वालारिवान ने रियो डी जनेरियो में चल रहे शूटिंग वर्ल्ड कप 2019 में महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता है। 20 वर्षीय इलावेनिल अपने पहले सीनियर शूटिंग विश्व कप में महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल श्रेणी में विश्व कप में स्वर्ण जीतने वाली तीसरी भारतीय निशानेबाज बनी। इनसे पहले अपूर्वी चंदेला और अंजलि भागवत ने ये कारनामा किया है। 251.7 अंकों के साथ इलावेनिल ने स्वर्ण पदक अपने नाम किया। जबकि ग्रेट ब्रिटेन के सियोनाड मैकिंटोश ने 250.6 अंकों के साथ रजत पदक जीता। वालारिवान इससे पहले जूनियर वर्ल्ड कप में दो गोल्ड जीत चुकी है। फाइनल में भारत की सीनियर शूटर अंजुम मुदगिल छठे स्थान पर रहीं। इसके पहले अपूर्वी चंदेला काफी कम फासले से फाइनल में क्वालिफाई करते-करते रह गईं। उनका क्वालिफाइंग राउंड में 11वां स्थान रहा। भारत ने 2020 ओलंपिक ईवेंट के लिए पहले ही अपने कोटे की दो जगहें सुरक्षित कर ली हैं। वालारिवान ने अपनी सीनियर शूटर अंजुम मुदगिल को भी हरा दिया। वालारिवान और मुदगिल दोनों ने 629.4 और 627.7 प्वाइंट्स के साथ क्वालीफाई किया था। फाइनल्स के लिए क्वालीफाई करने वाले 8 लोगों में ये दोनों शामिल थीं।


टी20 सीरीज नहीं खेल पाएगें धोनी

नई दिल्ली l भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज 15 सितंबर से खेली जानी है। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी इस सीरीज के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगे। इससे पहले धोनी इसी महीने की शुरुआत में वेस्टइंडीज के खिलाफ भी टी20 और वनडे टीम का हिस्सा नहीं थे। धोनी ने 31 जुलाई से 15 अगस्त के बीच आर्मी ट्रेनिंग ली थी, जिसके चलते वो वेस्टइंडीज दौरे पर नहीं गए थेl हालांकि अब वो क्यों ब्रेक ले रहे हैं इसके बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं है। धोनी के एक करीबी के मुताबिक वो इन मैचों में खेलने के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगे। खबरों की माने तो 4 सितंबर को दक्षिण अफ्रीका के सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान होगा। पूरी संभावना है कि वेस्टइंडीज को 3-0 से हराने वाली टीम को बरकरार रखा जाएगा। टीम चयन के लिए चयन समिति अक्टूबर 2020 में ऑस्ट्रेलिया में होने वाले आईसीसी विश्व टी20 को ध्यान में रखना चाहती है। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि विश्व टी20 के पहले मैच से पहले भारतीय टीम केवल 22 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलेगी और चयनकर्ता स्पष्ट हैं कि ये आगे बढ़ने का समय है।
उन्होंने कहा कि वे सीमित ओवरों के लिए खासकर टी20 के लिए तीन विकेटकीपरों का पूल तैयार करने की योजना बना रहे हैं। अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि बीसीसीआई अधिकारी या चयन समिति उनकी योजनाओं के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए धोनी से बात करेगी या नहीं। विश्व कप के बाद धोनी वेस्टइंडीज दौरे पर इसलिए नहीं गए थे, क्योंकि उन्होंने क्रिकेट से ब्रेक लेकर सेना में ट्रेनिंग की थी। अधिकारी ने कहा संन्यास लेना व्यक्तिगत फैसला है और चयनकर्ताओं को या फिर किसी को भी इस पर फैसला करने का अधिकार नहीं है। लेकिन उनके पास 2020 आईसीसी विश्व टी20 के लिए रोडमैप तैयार करने का पूरा अधिकार है और इसके तहत ऋषभ पंत को ज्यादा से ज्यादा मौके देना शामिल है।


स्वस्थ जीवन का मूलमंत्र:मोदी

नई दिल्लीl पीएम नरेंद्र मोदी ने फिटनेस के लिए एक जन आंदोलन की जरूरत बताते हुए आज इंदिरा गांधी स्टेडियम में बड़े कार्यक्रम में फिट इंडिया मूवमेंट की शुरुआत की। पीएम ने निरोग रहने के लिए फिट रहने के फायदे भी गिनाए। पीएम ने कहा कि तकनीक के कारण हम अपनी फिटनेस पर ध्यान नहीं दे रहा हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार फिट इंडिया कैंपेन की शुरुआत करते हुए लोगों से इसे जन आंदोलन बनाने का आग्रह किया। पीएम ने यह भी बताया कि अचानक इस अभियान की जरूरत क्यों पड़ी। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि कैसे धीरे-धीरे हम अपने फिटनेस के प्रति उदासीन होते जा रहे हैं। पीएम ने फिटनेस के लिए तकनीक का इस्तेमाल करने वाले लोगों पर तंज कसते हुए कहा कि आजकल हम चलते कम हैं, गिनते ज्यादा हैं। पीएम ने इंदिरा गांधी स्टेडियम में अभियान की शुरुआत करते हुए कहा कि आज हम तकनीक के भरोसे जीने लगे हैं। उन्होंने कहा कि फिटनेस हमारे जीवन के तौर-तरीकों रहन-सहन का अभिन्न अंग रहा है। उन्होंने कहा, 'यह भी सच है कि समय के साथ फिटनेस को लेकर हमारे समाज में एक उदासीनता आ गई है।' उन्होंने कहा कि फिटनेस को एक उत्सव के रूप में मानक के तौर पर स्थापित करें। पीएम ने तकनीक के भरोसे रहने वाले लोगों पर तंज कसते हुए कहा, 'तकनीक ने हमारी ऐसी हालत कर दी है कि हम चलते कम हैं और गिनते ज्यादा हैं। तकनीक हमें गिनकर बताती है कि आज आप इतने स्टेप चले हैं। मोबाइल पर कदम गिन रहे हैं। कुछ लोग डेली लाइफ में इतने व्यस्त हैं कि फिटनेस पर ध्यान ही नहीं देते हैं और भरपूर खाते हुए डायटिंग पर चर्चा खूब करते हैं। कुछ लोग मोबाइल पर फिटनेस वाला ऐप डाउनलोड करने में सबसे आगे होते हैं लेकिन कुछ दिन बाद देखते ही नहीं हैं।' उन्होंने कहा कि कुछ लोग फिटनेस के लिए घर में एक बड़ा जिम रखते हैं लेकिन उसकी सफाई के लिए एक नौकर भी रखते हैं क्योंकि वो कभी खुद साफ नहीं कर सकते हैं। बाद में फिर वे उसे भूल भी जाते हैं। यानी ढाक के तीन पात।' पीएम ने कहा कि समय कैसे बदला उसका एक उदाहरण देता हूं। कुछ दशक पहले तक एक सामान्य व्यक्ति एक दिन में 8-10 किलोमीटर पैदल चल लेता था। जीवन में शारीरिक गतिविधि सहज हुआ करती थी। पर तकनीक बदली, आधुनिक साधन आए और हमारा पैदल चलना और मेहनत करना कम हो गया।' पीएम ने कहा कि आज देश में जीवनशैली से जुड़ी बीमारियां जैसे डायबिटीज, हाई बीपी बढ़ रही है। ये बीमारियां जीवनशैली में गड़बड़ी के कारण हो रही हैं। इसे ठीक कर हम इन बीमारियों को ठीक भी कर ककते हैं। कई ऐसी बीमारियां हैं, जिसे हम छोटे बदलाव करके दूर कर सकते हैं। ऐसे बदलाव का नाम ही फिट इंडिया मूवमेंट है। उन्होंने कहा कि यह बदलाव केवल भारत में ही नहीं पूरे विश्व में आ रहे हैं।


तेलंगना एक्सप्रेस में आग लगने से हड़कंप

नई दिल्ली। फरीदाबाद के बल्लभगढ़ में प्याला स्टेशन के पास तेलंगाना एक्सप्रेस में सुबह आग लगने से हड़कंप मच गया। बताया जा रहा है कि यह घटना सुबह करीब 7.43 बजे की है। हालांकि अब आग पर काबू पा लिया गया है। जानकारी के अनुसार ब्रेक बाइंडिंग में तेज आग और धुएं के कारण ट्रेन को प्याला स्टेशन के पास रोकना पड़ा। ब्रेक बाइंडिंग की आग दो कोचों तक भी पहुंच गई थी। इसके बाद इन्हें खाली कराया गया। घटना की सूचना मिलते ही दमकल विभाग की गाड़ियां मौके पर पहुंची। इस बीच ट्रेनों की आवाजाही पर रोक लगा दी गई। दमकल विभाग ने मौके पर पहुंचकर आग पर काबू पा लिया। इस घटना में किसी के हताहत होने की कोई खबर नहीं है। इंजन को ट्रेन के आगे और पीछे के हिस्से की सफाई के लिए भेज दिया गया है।


K226T-रूसी हेलीकॉप्टर अनुबंध पर हस्ताक्षर

मॉस्‍को। K 226T के बारे में सभी तकनीकी और वाणिज्यिक वार्ता पहले ही समाप्त हो चुकी हैं, लेकिन अनुबंध पर हस्ताक्षर नहीं किए गए हैं। रूस ने उम्मीद जताई है कि अगले सप्ताह तक KA 226 टी-रूसी हेलीकॉप्टर अनुबंध पर हस्ताक्षर होने की संभावना है।रूसी राज्य निगम और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के निदेशक विक्टर एन कल्दोव ने कहा, “यह डील बहुत सफलतापूर्वक रही है, पेमेंट का तरीका कोई अधिक मुद्दा नहीं है। हमें बैंकिंग प्रतिबंधों के कारण शुरुआत में कुछ कठिनाइयां थीं।


अलग मुद्रा का उपयोग
लेकिन फिर हमने G2G (गवर्मेंट टू गवर्मेंट) लेवल पर इसे सुलझा लिया है और हम एक अलग मुद्रा का उपयोग करते हैं।” रोस्टेक के कल्दोव ने कहा, “हां, हम उम्मीद कर रहे हैं कि राष्ट्रपति पुतिन और प्रधान मंत्री मोदी के बीच यह मुलाकात K 226 T प्रोजेक्ट में नया विकास लाएगी। यह डील आगे बढ़ेगी।”कल्दोव ने कहा, “कोई देरी नहीं है, हमें भारत के रक्षा मंत्रालय से अंतिम हां इंतजार है. सब कुछ तैयार है”बता दें कि रोस्टेक (Rostec)रूस की सभी रक्षा कंपनियों के लिए एक छत्रप के रूप में काम करता है।


ऐसा माना जा रहा है कि अगले सप्ताह पीएम मोदी के रूस दौरे के दौरान कामोव का -226 या का 226 टी – रूसी हेलीकॉप्टर अनुबंध पर हस्ताक्षर होने की संभावना है। भारत रूस ने पिछले साल S400 सौदे की घोषणा की और बाद में अमेरिकी प्रतिबंधों को देखते हुए भुगतान एक मुद्दा था।भारत को अप्रैल 2023 तक रूसी एस 400 मिल जाएगा। कल्दोव ने कहा, भारत एक शक्तिशाली बड़ा देश है, जो समान रूप से अमेरिका से बात करता है और जब S400 की बात आती है तो भारतीय सरकार ने अमेरिकी समकक्ष को समझाया कि यह राष्ट्रीय रक्षा के लिए आवश्यक है ”कमोव हेलीकाप्टर वायुसेना और थल सेना दोनों को दिए जाएंगे। वर्ष 2015 में हुए प्रारंभिक समझौते के अनुसार पहले 60 कमोव-226टी हेलीकाप्टर रुस से तैयार हालत में आएंगे। बाकी 140 का विनिर्माण भारत में किया जाएगा।


वायु सेना:बम बंकर बस्टर वर्जन स्पाइस

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना को जल्द ही स्पाइस 2000 बम के बंकर बस्टर वर्जन मिल जाएंगे। इससे भारतीय वायुसेना की ताकत में इजाफा होगा और पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया जा सकेगा। स्पाइस बम के बंकर बस्टर वर्जन वायुसेना को सितंबर महीने के दूसरे सप्ताह के आखिरी तक मिल जाएंगे। इसके लिए भारत और फ्रांस के बीच 300 करोड़ रुपये की डील पर साइन हुए थे।
भारतीय वायुसेना को स्पाइस 2000 बम के बंकर बस्टर वर्जन उस समय मिलने जा रहे हैं, जब अनुच्छेद 370 को हटाए जाने को लेकर पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। पाकिस्तान लगातार भारत को जंग की धमकी दे रहा है। इससे पहले फरवरी में भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ठिकानों पर स्पाइस 2000 बम बरसाए थे, जो इजरायली एम्युनिशन के भेदक वर्जन वाले बम थे।
अब जो फ्रांस से लिए जा रहे हैं, वो बंकर बस्टर वर्जन वाले स्पाइस 2000 बम हैं। इन बमों की स्टैंडऑफ रेंज 60 किलोमीटर है। स्पाइस 2000 बम में एमके-84, बीएलयू-109, एपीडब्ल्यू और आरएपी-2000 की तरह वॉरहेड के लिए ऐड-ऑन किट लगा होता है। यह बम गिरने के बाद भी अपने लक्ष्य को खोज लेता है। इससे दुश्मन बच नहीं सकता है।आपको बता दें कि फरवरी में पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर आत्मघाती हमला किया था। इसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इसके बाद भारतीय वायुसेना ने जवाबी कार्रवाई की थी और पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर हमला किया था। बालाकोट एयरस्टाइक में भारतीय वायुसेना ने स्पाइस 2000 बमों का इस्तेमाल किया था। इसमें काफी संख्या में आतंकियों के मारे जाने की खबर आई थी।


तापमान एवं पैमाना विधि

तापमान किसी वस्तु की उष्णता की माप है। अर्थात्, तापमान से यह पता चलता है कि कोई वस्तु ठंढी है या गर्म।


उदाहरणार्थ, यदि किसी एक वस्तु का तापमान 20 डिग्री है और एक दूसरी वस्तु का 40 डिग्री, तो यह कहा जा सकता है कि दूसरी वस्तु प्रथम वस्तु की अपेक्षा गर्म है।एक अन्य उदाहरण - यदि बंगलौर में, 4 अगस्त 2006 का औसत तापमान 29 डिग्री था और 5 अगस्त का तापमान 32 डिग्री; तो बंगलौर, 5 अगस्त 2006 को, 4 अगस्त 2006 की अपेक्षा अधिक गर्म था।गैसों के अणुगति सिद्धान्त के विकास के आधार पर यह माना जाता है कि किसी वस्तु का ताप उसके सूक्ष्म कणों (इलेक्ट्रॉन, परमाणु तथा अणु) के यादृच्छ गति (रैण्डम मोशन) में निहित औसत गतिज ऊर्जा के समानुपाती होता है।तापमान अत्यन्त महत्वपूर्ण भौतिक राशि है। प्राकृतिक विज्ञान के सभी महत्वपूर्ण क्षेत्रों (भौतिकी, रसायन, चिकित्सा, जीवविज्ञान, भूविज्ञान आदि) में इसका महत्व दृष्टिगोचर होता है। इसके अलावा दैनिक जीवन के सभी पहलुओं पर तापमान का महत्व है।


पैमाना :-उपरोक्त उदाहरणों में तापमान को डिग्री में निरूपित किया गया है, जो कि वास्तव में कई पैमानों पर मापा जाता है - सेल्सियस, केल्विन, रोमर, फॉरेन्हाइट इत्यादि।


सेल्सियस-इसे सेन्टीग्रेड पैमाना भी कहते हैं। इस पैमाने के अनुसार पानी, सामान्य दबाव पर 0 डिग्री सेल्सियस पर जमता है और 100 डिग्री सेल्सियस पर उबलता है। यह पैमाना दैनिक वातावरणीय तथा अन्य कामों में काफी प्रयुक्त होता है।


केल्विन-इस पैमाने के अनुसार पानी, सामान्य दबाव पर 273.15 डिग्री केल्विन पर जमता है और 373.15 डिग्री केल्विन पर उबलता है। यह पैमाना वैज्ञानिक गणनाओं तथा अन्य कामों में काफी प्रयुक्त होता है।


फॉरेन्हाइट-इस पैमाने के अनुसार पानी, सामान्य दबाव पर 32 डिग्री फॉरेन्हाइट पर जमता है और 212 डिग्री फॉरेन्हाइट पर उबलता है। परम्परागत बुखार मापने के लिये प्रयुक्त थर्मॉमीटर में इसी पैमाने का प्रयोग होता है। यदि किसी व्यक्ति के शरीर का तापमान 98.4 डिग्री से ज्यादा हो जाता है तो वह ज्वर पीड़ित होता है। यह पैमाना दैनिक वातावरणीय तथा अन्य कामों में प्रयुक्त होता हैं ।


रोमर-इस पैमाने के अनुसार पानी, सामान्य दबाव पर 0 डिग्री रोमर पर जमता है और 80 डिग्री रोमर पर उबलता है। यह पैमाना अपेक्षाकृत कम प्रयुक्त होता है।


कठोर परिश्रम से लक्ष्य प्राप्त होगा:मीन

राशिफल


मेष-आज आपके लिए भाग्य और कर्म का अद्भुत मेल रहने वाला है। पूर्व के लंबित कार्य आज गति पकड़ेगे। किसी महिला मित्र से सहयोग मिलने के कारण उन्नति के आसार बन रहे हैं। संतान से सुख मिलेगा।यदि आप किसी शिक्षा-प्रतियोगिता में हिस्सा ले रहे हैं तो भाग्य और आपकी मेहनत दोनों आपका साथ देंगे। नौकरी में परिवर्तन की राह देखने वालों के लिए यह समय खुशियों भरा होगा। भाग्य तथा आपके प्रयासों के कारण आप एक बेहतर परिवर्तन करने में समर्थ होंगे। पारिवारिक जीवन यथावत रहेगा।


वृष-आपका दिन अच्छा बीतेगा। व्यवसाय में वृद्धि और व्यापार में बेहतरी के अवसर मिलेंगे। आर्थिक रूप से आप सुरक्षित रहेंगे। आप कुछ ठोस कदम उठाएंगे जिससे आपकी वित्तीय वृद्धि की संभावनाएं बढ़ेंगी। आप भौतिक वस्तुओं पर खर्च कर सकते हैं। नई नौकरी की तलाश करने वालों को अपने प्रयास जारी रखने चाहिए।


मिथुन –आज आपका आत्मविश्वास और साहस चरम पर रहेगा। राजनीति या सामाजिक कार्यों से जुड़े लोग कई बैठकों आदि में भाग लेंगे। आपको सम्मान मिलेगा और कुछ नई जिम्मेदारी भी मिल सकती है।आप जटिल समस्याओं का समाधान पाएंगे। वित्त में किए गए प्रयास वांछित परिणाम देंगे। पुराना भुगतान भी मिल सकता है। प्रतिद्वंद्वी और प्रतियोगी आपको नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे। आप शुभ स्वास्थ्य का आनंद लेंगे। आज आप अपने परिवार के साथ आनंद और मौज-मस्ती युक्त समय बिताएंगे।


कर्क-किसी पुरानी बात को लेकर सहयोगियों से बहस हो सकती है अत: सावधानी से काम लेकर विवादों को टालें। निजी जीवन में कुछ परेशानियां रह सकती हैं।बेहतर होगा आप अपने जीवनसाथी की सोच को समझने का प्रयास करें। खानपान पर भी संयम रखें। प्रेम संबंधों के सन्दर्भ में आज का दिन अनुकूल है लेकिन आप अपनी या संतान की शिक्षा को लेकर चिंतित रह सकते हैं।


सिंह-नए व्यापार संबंधों और सौदों को अंतिम रूप देने के लिए के लिए यह एक अनुकूल अवधि है। कार्य संबंधी यात्राएं और सहयोग आने वाले महीनों में सकारात्मक परिणाम देंगे। आप में से कुछ महत्वपूर्ण लोगों से संपर्क स्थापित कर अधिक प्रभावशाली बन जाएंगे।प्रेम संबंधों के मामले में आप भाग्यशाली रहेंगे। विवाहित जातकों के लिए आवेग के कारण जीवनसाथी के साथ अनबन हो सकती है। स्वास्थ्य बिना किसी बड़ी चिंता के कमोबेश ठीक रहेगा।


कन्या-आप अपने आत्मविश्वास को फिर से हासिल करेंगे और पूरे समर्पण के साथ काम में जुटेंगे जो सकारात्मक विकास को जन्म देगा। आप एक से अधिक प्रोजेक्ट में शामिल होंगे और समय की कमी भी महसूस कर सकते हैं।वित्तीय स्थिति में सुधार होना तय है और आपको आय का एक अतिरिक्त स्रोत भी मिल सकता है। यदि आप परीक्षा या प्रतियोगिता के माध्यम से अपनी स्थिति को बढ़ाना चाहते हैं तो अपना ध्यान और समर्पण न खोएं।


तुला-यदि आप अपना स्वयं का व्यवसाय कर रहे हैं तो साझेदारी में प्रवेश करने का यह एक अच्छा समय है जो भविष्य में लाभकारी होगा। अगर आप नौकरी के लिए परीक्षा या प्रतियोगिता या साक्षात्कार में उपस्थित होते हैं तो आपको सफलता मिलेगी।सामाजिक गतिविधियों में आपकी रुचि होगी। परिवार में कोई धार्मिक समारोह या कोई अन्य उत्सव मनाया जा सकता है। लंबी दूरी की यात्रा फायदेमंद साबित होगी। आप खुश और शांत रहेंगे। विवाह योग्य संतान का रिश्ता पक्का हो सकता है।


वृश्चिक-आज आपके लिए नए संपर्क बनाने का एक अनुकूल समय है। पूर्व के चले आ रहे प्रेम सम्बन्ध और परिपक्व हो सकते हैं। कुछ जातकों के जीवन में प्रेम आज दस्तक दे सकता है।किसी बात को लेकर पारिवारिक संबंधों में खटास आ सकती है। विवाहित जोड़े पितृत्व मार्ग की ओर कदम बढ़ा सकते हैं। आप में से कुछ संतान के विकास और खुशी का आनंद लेंगे।


धनु –आप खुश और हंसमुख रहेंगे। आपके पास कई अवसर होंगे और आप वरिष्ठों से एहसान प्राप्त करेंगे। आपका करियर और आपकी वित्तीय स्थिति में भी काफी सुधार होगा। प्रेमियों के लिए सुखद समय रहेगा।आप महत्वपूर्ण लोगों के साथ नए सम्बन्ध स्थापित करेंगे। आपका पारिवारिक जीवन खुशहाल और आनंदमय रहेगा। आपका स्वास्थ्य शुभ रहेगा। निवेश प्रयासों के लिए दिन परिपक्व है जो आपकी आर्थिक स्थिति को बेहतरी की ओर ले जाएगी।


मकर-वित्तीय परिणाम उम्मीद से कम हो सकते हैं और आपको इससे निपटना होगा। सोच समझकर निवेश करना चाहिए। यदि पैतृक संपत्ति के संबंध में कोई संघर्ष है, तो प्रयास करें और इसे सौहार्दपूर्वक हल करें।काम से संबंधित यात्रा अमल में आ सकती है जिससे नए रास्ते खुलेंगे। कुल मिलाकर आपका स्वास्थ्य ठीक रहेगा लेकिन अपनी आँखों का विशेष ध्यान रखें। बच्चे बहुत अच्छा करेंगे और वे आपको गर्व करेंगे। पारिवारिक परिवेश आनंददायक रहेगा।


कुंभ-यद्यपि आपकी माँ की स्वास्थ्य-स्थिति आपको चिंतित रखेगी और आपके बच्चे भी अच्छे स्वास्थ्य में नहीं हो सकते हैं। किन्तु भौतिक समृद्धि की स्थिति बहुत फायदेमंद होगी और आपको विभिन्न स्रोतों से लाभ होगा।आपके कुछ शत्रु मित्र के रूप में आपके घेरे में रह सकते हैं। लेकिन आप उन्हें नियंत्रित करने में सक्षम होंगे। आपके पेशेवर क्षेत्र में आपको प्रशंसा मिलेगी और सामाजिक रूप से आप अधिक लोकप्रिय हो जाएंगे। आपके पास नए अधिग्रहण हो सकते हैं जो आपको खुश करेंगे।


मीन-आज आप कठोर परिश्रम द्वारा वह लक्ष्य प्राप्ति कर सकते हैं। आपको अपनी व्यावसायिक परियोजनाओं को मूर्त रूप प्रदान करने में सामान्य से अधिक समय लगाना पड़ सकता है। किन्तु यह आपको कुछ अतिरिक्त फल नहीं प्रदान कर पायेगा।अपने काम और पारिवारिक संबंधों के बीच किसी भी तरह के मतभेद से बचें, इससे समय और संसाधनों का अपव्यय हो सकता है। प्रेम सम्बन्ध मधुर रहेंगे। अपने और अपने बच्चों के स्वास्थ्य के मामलों में अतिरिक्त सावधानी बरतें।


यमाचार्य नचिकेता वार्ता

ब्रहम ऋषि कृष्णदत्‍त के द्वारा


गतांक से....
मेरी प्यारी माता सदैव पुत्रों के लिए यह चाहती है कि मेरा पुत्र महान बन जाए। मेरे पुत्र में एक महानता आ जाए, मेरा पुत्र आध्यात्मिक विज्ञान और भौतिक विज्ञान दोनों को अपने में समेटने वाला हो। परंतु पिता भी यही चाहता है। यह मेरी इच्छा पूर्ण करना चाहता है,तो जाओ तुम मृत्यु को चले जाओ। मृत्यु के गर्भ में यह क्या है, तुम अज्ञान को त्याग और प्रकाश में चले जाओ। प्रभु से कामना करते हैं, मेरा पुत्र मुझे प्रकाश में प्रकाश के लिए प्रेरणा दे रहा है और मोक्ष में जाना चाहता है। मेरा वही पित्र मेरे जीवन का कल्याण करने वाला है। आचार्यकुल में जब ब्रह्मचारी अध्ययन करता है तो आचार्य की यह कामना होती है कि मेरा ब्रह्मचारी महान होना चाहिए। मेरे ब्रह्मचारी में चक्षुओं में अनुसंधान, में अनुसंधान स्रोतों में अनुसंधान, अनुसंधान करता हुआ कहता है। ब्रह्मचारी इंद्रियों के विषयों को मुझे प्रदान कर। जिससे मैं पवित्र और महान बन जाऊं। मैं महान बनूंगा ब्रह्मचारी महान बनेगा। नचिकेता, यह क्या है मेरी इच्छा यह है कि मेरे पित्रो की योजनाएं उनकी आशा अभिलाषा पूर्ण हो। उन्होंने कहा प्रभु और बताएं, देवता है उनकी भी मेरे हृदय में यह कामना है कि वे भी भासित रहे। जैसे सूर्य हमारा पित्र है, वह प्रकाश देता है। चंद्रमा हमारा पित्र है ,वह अमृत देता है। अग्नि हमारा पित्र है वह ऊर्जा देता है। उष्‍ण बनाता है बनाता रहता है। यह शीतल बनाता है वायु देता है। अंतरिक्ष हमें अवकाश देता है। अपने अपने पित्र है। यह चरित्र है। परंतु यह पित्र कैसे हैं जो हमें देते ही देते हैं।अमृत देने वाला चंद्रमा है कहां-कहां से बटोर करके हमें प्रदान करता है। मेरे प्रभु, तू कितना  विज्ञानमयी है। बालक नचिकेता ब्रह्मचारी कहता है, आचार्य,हे प्रभु,मेरे जो पित्र जन है वह चंद्रमा अमृत लाता है,  समुंदरों में जाता है। समुंदरों से परमाणुओं को लेता है।अंतरिक्ष में पहुंचाता है अपनी छटा कांति के द्वारा वह प्रदान करता है। जो भाषित रहता है। सूर्य,वह सूर्य प्रकाश को देने वाला है। वह प्रकाश देता है। देखो इसी प्रकार यह आपको ज्योति देता है। यह अमृत मई प्राण में समाहित रहती है। 'प्राणोंऽवृहे वाचन्‍नम्‌ ब्रह्मा:' यह प्राणों से युक्त होकर के हमें शीतल बनाता है। जीवन प्रदान कर देता है। इसी प्रकार अग्नि है। अग्नि पोषण बनाने लगती है यह तो वही बनाती है जो अपने वायुमंडल को पवित्र,अपने आप हमें नियुक्त बनाती रहती है। इसी प्रकार वायु प्रण देता है और अंतरिक्ष अवकाश देता है तो यह भगवान मेरे चरित्र में पितरों के संबंध में तो इतना नहीं जानता हूं। परंतु मेरी इच्छा यह है कि पितरों के लिए आया हूं। प्रभु, मेरे पितरों की इच्छा पूर्ण हो। मेरे प्यारे बालक नचिकेता के वाक्यों को पान करके उसके मुखारविंद को एक ही नेत्रों से वे दृष्टिपात करते रहे। उन्होंने सोचा कि है ब्रह्मचारी तो बड़ा विचित्र है। जो अपने सर्वत्र पितरों की इच्छा को पूर्ण करना चाहता है और कहा, ब्रह्मचारी तथास्तु। प्रथम वचन स्वीकार कर दिया, द्वितीय वचन रह गया। उन्होंने कहा मैं यह जानना चाहता हूं कि स्वर्ग किसे कहते हैं। मैं स्वर्ग के संबंध में अपनी विवेचना चाहता हूं। मैं जानना चाहता हूं कि स्वर्ग क्या है? तो बालक नचिकेता ने कहा हे ब्रह्मचारि,अग्‍नि की पूजा करने का नाम है स्वर्ग कहलाता है। अब नचिकेता को आचार्य ने कहा है नचिकेता मैं उच्चारण करता जाऊंगा तुम सुनते जाओ और जहां तुम्हारी शंका हो वहां निवारण करते चले जाओ। उन्होंने कहा स्वर्ग कहते हैं अग्नि की पूजा को अब अग्नि हमारे यहां कितने प्रकार की है? जिसका हम पूजन करें एक अग्नि वह जिस अग्नि में मेरी प्यारी माता भोजन को तपा रही है। यह अग्निवृत है। अग्नि का नाम ग्रहपथ्‍य हैं, जिसके नाम की अग्नि में ब्रह्मचारी अपने विद्यालय में तपा करता है। विद्यालय में ब्रह्मचारी तप रहा है। अपना क्रियाकलाप बना दिया है। उसने स्वर्ग में जाने के लिए प्रातः कालीन अपने आसन को त्याग देता है। जब तारा मंडलों की आंतरिक स्रोत रहती है। आसन को त्याग वह अपनी क्रियाओं से निवृत्त होता है। क्रियाओं से निवृत्त होकर के प्रातः कालीन यज्ञ की अग्नि में आहुतियों के द्वारा वह देवताओं का पूजन करता है। जिसे ग्रहपथ्‍य नाम की अग्नि कहते हैं। उस अग्नि का पूजन करता है वह अग्नि कौन सी है जो अग्नि ब्रह्मचर्य के रूप में मानव के शरीर में प्रवाहित रहती है। मैं ब्रह्मचारी उस अग्नि को स्वीकार करके उसका पूजन कर रहा हूँ ।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्रधिकृत प्रकाशन विवरण
August 30, 2019 • RNI.No.UPHIN/2014/57254
1.अंक-27 (साल-01)
2. शुक्रवार,30अगस्‍त 2019
3.शक-1941,भादप्रद कृष्‍णपक्ष अमावश्‍य ,विक्रमी संवत 2076
4. सूर्योदय प्रातः 5:53,सूर्यास्त 6:56
5.न्‍यूनतम तापमान -27 डी.सै.,अधिकतम-35+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, बरसात की संभावना!
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा!
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


शराब: डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेंगा आस्ट्रेलिया

सिडनी/ बीजिंग। ऑस्ट्रेलिया ने कहा है कि वो उनके यहाँ बनी शराब पर चीन के शुल्क बढ़ाने के खिलाफ डब्ल्यूटीओ में शिकायत दर्ज करेगा। चीन ने पिछले...