शनिवार, 10 अगस्त 2019

शांतिपूर्वक-विधिवत ढंग से मनाए त्यौहार

नई दिल्ली(यूए) । जम्मू-कश्मीर मे कर्फ्यू के बीच राज्यपाल सत्यपाल मालिक ने बड़ा बयान दिया है कि विशेष तयारी की जा रही हैं। हम इस मौके पर स्थानीय लोगों को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं उपलब्ध कराएगे।ताकि वे हर्षोल्लास के साथ अपना त्‍यौहार मना सकें। मलिक ने कहा कि हम चाहते हैं कि घाटी के लोग ईद के त्योहार को बगैर किसी डर के मनाएं। बता दें कि इससे पहले मोदी सरकार द्वारा संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद सत्यपाल मलिक ने सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की थी।इस दौरान उन्होंने किसी भी स्थिति से निपटने के लिए निरंतर सतर्कता बरतने और तैयारी की आवश्यकता पर जोर दिया था। राजभवन के प्रवक्ता ने बताया था कि सरकार ने शीर्ष अधिकारियों के साथ बैठक की और राज्य में मौजूदा सुरक्षा और कानून व्यवस्था की समीक्षा की।


उन्होंने बताया था कि राज्यपाल के सलाहकारों के विजय कुमार, के के शर्मा, के स्कंदन और फारूक खान और मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम ने बैठक में भाग लिया। आवश्यक सेवाओं का जायजा लेने के बाद जम्मू से श्रीनगर लौटे कुमार, स्कंदन और खान ने राज्यपाल को बिजली, पानी की आपूर्ति और स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं सहित लोगों को विभिन्न सार्वजनिक सेवाओं की आवश्यक आपूर्ति तथा वितरण के बारे में जानकारी दी।प्रवक्ता ने कहा था कि राज्यपाल ने आम जनता की सुरक्षा सुनिश्चित करने की आवश्यकता पर जोर दिया और प्रशासन को मौजूदा परिदृश्य में लोगों की वास्तविक जरूरतों पर ध्यान देने की सलाह दी। सुब्रह्मण्यम ने राज्यपाल को सूचित किया था कि कश्मीर घाटी में आवश्यक वस्तुओं की कोई कमी नहीं है और यह स्टॉक तीन महीने तक चलेगा। कानून-व्यवस्था की स्थिति और सरकारी तंत्र की तैयारियों की समीक्षा करते हुए, राज्यपाल मलिक ने विभिन्न विभागों और एजेंसियों के बीच निरंतर सतर्कता, तत्परता और तालमेल की आवश्यकता पर जोर दिया, ताकि किसी भी स्थिति से समन्वित और प्रभावी तरीके से निपटा जा सके। राज्यपाल ने जमीनी स्थिति पर लगातार कड़ी नजर बनाए रखने की आवश्यकता दोहराई और लोगों के समग्र हित के लिए समाज में शांति और सद्भाव लाने के लिए निरंतर प्रयासों के महत्व को रेखांकित किया।प्रवक्ता ने बताया था कि राज्यपाल मलिक ने विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक संगठनों के लोगों और नेताओं से अपील की है कि वे राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखने में सरकारी तंत्र का सहयोग करें। राज्यसभा ने सोमवार को अनुच्छेद 370 की अधिकतर धाराओं को खत्म कर जम्मू कश्मीर एवं लद्दाख को दो केन्द्रशासित क्षेत्र बनाने संबंधी सरकार के दो संकल्पों को मंजूरी दी।गृह मंत्री अमित शाह ने इस अनुच्छेद के कारण राज्य में विकास नहीं होने और आतंकवाद पनपने का दावा करते हुए आश्वासन दिया कि जम्मू कश्मीर को केन्द्रशासित क्षेत्र बनाने का कदम स्थायी नहीं है तथा स्थिति समान्य होने पर राज्य का दर्जा बहाल कर दिया जाएगा।


कांग्रेस को मिल जाएगा नया अध्यक्ष

नई दिल्ली । राहुल गांधी केबाद अब प्रियंका गांधी पार्टी की अब कमान संभालेंगी। खबर है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने से इंकार के बाद अब पार्टी नेताओं ने प्रियंका गांधी का नाम बढ़ाया है। जिन पांच ग्रुपों को नये राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनने की जिम्मेदारी दी गयी है, उनमें भी प्रियंका गांधी का नाम ही आगे बढ़ाया गया है। ये अलग है कि उन पांच ग्रुपों में से एक ग्रुप में खुद प्रियंका गांधी भी शामिल हैं। रात 8 बजे सीडब्ल्यूसी की एक बैठक होने जा रही है, उसी बैठक में नये अध्यक्ष के नाम पर पत्ता खुलेगा। इससे पहले आज सीडबल्यूसी की बैठक में भी राहुल गांधी से मेंबर्स ने राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने का सार्वजनिक अनुरोध किया गया, लेकिन राहुल गांधी ने साफ कर दिया कि वो राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं बनना चाहते, आप सभी नया अध्यक्ष चुनिये। बैठक में यह कहा गया कि बिना राहुल गांधी के पार्टी कैसे चलेगी? हालांकि, राहुल ने एकबार फिर यह पद संभालने से साफ इनकार कर दिया। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के बीच हुई बैठक में ज्यादातर नेताओं ने राहुल गांधी का ही नाम दिया। वहीं कुछ नेताओं ने राहुल गांधी के इनकार करने के बाद प्रियंका गांधी का नाम भी आगे बढ़ाया।इससे पहले बैठक शुरू होने के बाद जोन के हिसाब से सुझाव के लिए नेताओं की पांच टीम बनाई गई, जिसमें सोनिया गांधी और राहुल गांधी के नाम भी थे। लेकिन सोनिया गांधी ने इस पर ऐतराज जताया और कहा कि वो और राहुल गांधी अध्यक्ष के चुनाव की प्रकिया का हिस्सा नहीं हो सकते हैं।इसके बाद सोनिया गांधी और राहुल गांधी कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक से बाहर चले गए हैं। बाहर आकर सोनिया गांधी ने कहा कि अध्यक्ष चयन की प्रक्रिया में राहुल व उनका नाम डालना सही नहीं है। सोनिया गांधी ने यह भी बताया कि कमेटी की लिस्ट में राहुल और उनका नाम गलती से आ गया था।


मानक में निलंबित,4 अधिशासी-अभियंता

नगर निगम के अधिशासी अभियंता समेत चार इंजीनियरों को निलम्बित करने की हुई संस्तुति
अलीगढ़ । जिलाधिकारी चन्द्रभूषण सिंह ने नगर निगम द्वारा निर्मित कराये नालों का मानक के अनुसार निर्माण नहीं होने की शिकायत पर गुणवत्ता का सत्यापन करने के लिए सीडीओ की अध्यक्षता में टीम गठित की। जांच में टीम ने चार में से तीन नालों की शिकायतों को सही पाया।साथ ही नालों में लगी निर्माण सामग्री उचालकर प्रयोगशाला को जाॅच के लिए भिजवाई जा रही है। वहीं नगर निगम के अधिशासी अभियंता,अवर अभियंता व दो जेई को निलम्बित करने और पैसे की दुरूपयोग करने पर ठेकेदारों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कराने की संस्तुति की गई है।मुख्य विकास अधिकारी अनुनय झा ने बताया कि इन नालों के निर्माण के दौरान इंजीनियरों ने लापरवाही बरती है। इसलिए इनको तत्काल निलम्बित कर कारण बताओं नोटस दिये जाने की तथा निर्माणकार्य में धनराशि का दुरूपयोग करने पर ठेकेदारों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कराकर धनराशि की वसूलयावी करने की संस्तुति करते हुए जिलाधिकारी को रिपोर्ट भेज दी है।उन्होंने बताया कि इन इंजीनियरों नगर निगम निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता रमाकांतराम,अवर अभियंता सिब्ते हैदर,जूनियर इंजीनियर अमरीश वर्मा व असलम है।


अब चीन बेवकूफ बना रहा है पाक को


तो नेताओं ने बिगाड़ रखे थे कश्मीर के हालात।
अमरीका के बाद अब चीन बेवकूफ बना रहा है पाकिस्तान को।
रूस की दो टूक। जम्मू में मुस्लिम गुर्जरों ने जश्न मनाया
 केन्द्र शासित जम्मू कश्मीर में हालात सामान्य रहे। प्रदेश के 10 जिलों से धारा 144 हटा ली गई है। लोग अपने घरों से निकल बाजार में खरीददारी कर रहे हैं। यदि हालात इसी तरह रहे तो इंटरनेट सेवाएं भी बहाल कर दी जाएगी। 12 अगस्त को ईद का पर्व देखते हुए प्रशासन और राहत देने जा रहा है। अनुच्छेद 370 में बदलाव के बाद 5 अगस्त से ही जम्मू कश्मीर में पाबंदिया लगाई गई थीं, लेकिन छह दिन गुजर जाने के बाद भी किसी भी स्थान से गड़बड़ी की खबरें नहीं आई हैं। इससे प्रतीत होता है कि जब तक कश्मीर में राजनेताओं ने ही हालातों को बिगाड़ रखा था। कश्मीर के युवाओं को आजादी का ख्वाब दिखा, नेता अपने स्वार्थ पूरे कर रहे थे। बेवजह पाकिस्तान की दखलंदाजी करवाई जा रही थी। ऐसा माहौल बनाया गया कि पाकिस्तान के बगैर कश्मीर में शांति हो ही नहीं सकती है। लेकिन अनुच्छेद 370 में बदलाव कर जम्मू कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश बनाते ही एक झटके में 70 वर्ष पुरानी समस्या का समाधान हो गया। चूंकि महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला जैसे नेता गिरफ्तार हैं, इसलिए कश्मीर घाटी में भड़काने वाला कोई नहीं है। पाकिस्तान के इशारे पर घाटी में हंगामा करने वाले युवकों को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। अब आम कश्मीरी बड़े सुकून के साथ रह रहा है। 9 अगस्त को घाटी की अधिकांश मस्जिदों में जुम्मे की नमाज हुई तो अब 12 अगस्त को ईद को लेकर उत्साह और उमंग है। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि हालात सामान्य करने में कश्मीर के लोगों का सहयोग जरूरी है। 
अब चीन बना रहा है बेवकूफ:
अनुच्छेद 370 में बदलाव होने से कश्मीर में जो शांति कायम हुई है उससे घबरा कर पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह कुरैशी चीन पहुंच गए हैं। कुरैशी ने कहा है कि जम्मू कश्मीर में पुरानी स्थिति बहाल करवाने में चीन को भारत पर दबाव डालना चाहिए। कुरैशी के आग्रह पर चीन ने बयान जारी कर कहा है कि कश्मीर का विवाद भारत और पाकिस्तान को मिलकर सुलझाना चाहिए। चीन का यह बयान पाकिस्तान को बेवकूफ बनाने के लिए है क्योंकि अनुच्छेद 370 की वजह से ही तो विवाद था। वैसे भी चीन हांगकांग में जो एकतरफा कार्यवाही कर रहा है उसकी दुनियाभर में आलोचना हो रही है। जब चीन स्वयं दुनिया की परवाह नहीं कर रहा है तो फिर भारत, चीन की परवाह क्यों करेगा? पाकिस्तान को यह भी समझना चाहिए कि प्रधानमंत्री इमरान खान से मुलाकात के समय भी अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी बेवकूफ ही बनाया था। भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लेकर मध्यस्थता की बात कह कर ट्रंप ने इमरान को बेवकूफ ही बनाया। ट्रंप के इस बयान के बाद ही तो 370 में बदलाव किया गया। वहीं रूस ने दो टूक कहा है कि भारत अपनी सुरक्षा के लिए फैसला करने में स्वतंत्र है। 
जम्मू में गुर्जरों का जश्न:
अनुच्छे 370 बदलाव के बाद 10 अगस्त को जम्मू में मुस्लिम गुर्जर समुदाय के लोगों ने जश्न मनाया। तिरंगा हाथ में लेकर समुदाय के लोगों ने कहा कि अब तक हम अपने अधिकारों से वंचित थे। लेकिन अब हमें अपने अधिकार मिलेंगे। सही मायने में जम्मू कश्मीर की आजादी अब हुई है। 
एस.पी.मित्तल


असंतुलित कांग्रेस (संपादकीय)

आखिर सोनिया और राहुल गांधी कांग्रेस में क्या चाहते हैं? 
अब 35 नेता नए अध्यक्ष के नाम पर मंथन करेंगे। 
वर्किंग कमेटी की बैठक को बीच में छोड़ कर चले गए।

दिल्ली में कांग्रेस का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनने के लिए कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक हुई। इस बैठक में कोई निर्णय हो पाता इससे पहले ही निवर्तमान अध्यक्ष राहुल गांधी ने ऐलान कर दिया कि अभी और विचार विमर्श की जरूरत है। यही वजह रही कि कांग्रेस के कुछ नेताओं ने नए अध्यक्ष को लेकर जो प्लान बनाया था उस पर पानी फिर गया। अब वर्किंग कमेटी से जुड़े 35 नेता आपस में विचार विमर्श करेंगे तब कोई निर्णय होने की उम्मीद है। ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर श्रीमती सोनिया गांधी और राहुल गांधी कांग्रेस में क्या चाहते हैं? एक ओर कोई स्पष्ट दिशा निर्देश नहीं देते और दूसरी ओर बड़े नेता जो योजना बनाते हैं उस पर ऐनमौके पर पानी फेर दिया जाता है। दस अगस्त को भी जब राहुल गांधी के फरमान के बाद वर्किंग कमेटी के सदस्यों ने आपसी विचार विमर्श शुरू किया तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी बैठक छोड़ कर चले गए। राहुल का कहना रहा कि उन्हें बाढ़ ग्रस्त केरल के दौरे पर जाना है। जबकि सोनिया गांधी ने कहा कि वे विचार विमर्श की प्रक्रिया का हिस्सा नहीं बनना चाहती। अलबत्ता बहन और राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी बैठक में उपस्थित रहीं। लेकिन सोनिया और राहुल के बगैर वर्किंग कमेटी बैठक को चलाए रखने की हिम्मत किसी भी नेता की नहीं थी। थोड़ी ही देर में बैठक को खत्म कर दिया गया। अब कहा जा रहा है कि 11 अगस्त को फिर से वर्किंग कमेटी की बैठक होगी। लोकसभा चुनाव में हार मिलने के बाद 25 मई को राहुल गांधी ने कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। ढाई माह गुजार जाने के बाद भी नया अध्यक्ष नहीं बन सका है। इस बीच कांग्रेस में लगातार बिखराव हो रहा है। कांग्रेस को नियंत्रित करने वाला कोई नेता नहीं है। इसलिए सांसद, विधायक कांग्रेस भी पार्टी छोड़ रहे हैं। कांग्रेस की बुरी दशा की वजह से ही राज्य सभा में अल्पमत होते हुए भी भाजपा ने तीन तलाक, अनुच्छेद 370 में बदलाव जैसे बिल स्वीकृत करवा लिए। खुद कांग्रेसियों की समझ में नहीं आ रहा कि संगठन का क्या होगा।  हालांकि कांग्रेस की पंजाब राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तसीगढ़ जैसे बड़े राज्योंमें सरकारें हैं। लेकिन इन सरकारों पर नियंत्रण करने वाला भी कोई नहीं है। राज्यों के मुख्यमंत्री अपने स्तर पर ही निर्णय ले रहे हैं। 
एस.पी.मित्तल


जिलाधिकारी गाजियाबाद के नाम खुला पत्र

जल प्रदूषण और वायु प्रदूषण की शिकायत 


अकांशु उपाध्याय
गाजियाबाद । लोनी नगर पालिका परिषद क्षेत्र में कूड़े के ढेर, बदबूदार सड़न और सड़कों पर बहता हुआ पानी, सीवर ओवरफ्लो होने के कारण सड़कों पर बहते हुए मैले की गंदगी और बंद नालियां के कारण जल प्रदूषण और वायु प्रदूषण के बीच नारकीय जीवन जीना यहां के बाशिंदों के दिए एक आम बात हो गई है ! लोनी के दिल्ली बनने और बनाने के बयान रोज अखबारों में प्रकाशित होते है अथवा फोटो सहित बड़े बड़े इस्तहार छपवा कर लोनी को दिल्ली बनाने की फर्जी वाह-वाही लूटी जाती हैं, या फिर लोनी की सुंदर तस्वीर प्रस्तुत करके शासन-प्रशासन की आंखों में धूल झोंकी जाती हैं!
पालिका क्षेत्र दिल्ली से सटे होने के बाद भी और केंद्र एवं राज्य सरकार से लोनी के विकास के लिए प्राप्त अरबों-खरबों रुपए का सरकारी धन खर्च करना दिखाएं जाने के बावजूद भी लोनी की सूरत अभी तक भी एक मलिन बस्ती से अधिक कुछ नहीं है।अगर रोज अखबारों में प्रकाशित इस्तहार और तथाकथित नेताओं के बयानों पर दृष्टि डाली जाए तो लोनी की भौगोलिक स्थिति से अनिभिज्ञ व्यक्ति एक बार को अपनी आंखों में किसी सुंदर नगरी का दृश्य संजो कर देखेगा !मुझे अखबारों में छपास की ज्यादा आदत अथवा बीमारी नहीं हैै।  लेकिन लोनी की इस दुर्दशा से बहुत आहत हूं ! लोनी की जनता जल प्रदूषण, वायु प्रदूषण और गंदगी से आजिज आ चुकी है ! इसलिए मेरे इस पत्र के साथ साथ आप लोग भी शासन-प्रशासन के समक्ष लोनी की वास्तविक तस्वीर प्रस्तुत करने में सहयोग करें! मैं तो हिंदूवादी सोच रखने वाले लोनी के तथाकथित राज नेताओं को कहना चाहता हूं कि अगर उनके एजेंडे में मुस्लिम क्षेत्र का विकास नहीं है तो कम से कम हिंदू बाहुल्य कालोनियों के बाशिंदों पर तो यह लोग दया रहम करें ! इन तमाम शिकायतों पर प्रशासन की उदासीनता के कारण एक कार्यकर्ता के जरिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल में वाद दायर कराने के लिए मुझे बाध्य होना पड़ा लेकिन मैं स्तब्ध हूं कि एनजीटी के आदेशों की भी संबंधित विभागों के अधिकारी अवहेलना कर धज्जियां उड़ा रहे हैं ! आपको समस्त आदेशों एवं कार्रवाई की कॉपी संलग्न कर रहा हूं !
जिलाधिकारी महोदय से अनुरोध है कि एनजीटी के आदेशों का सख्ती से अनुपालन कराने का कष्ट करें ! बरसात के मौसम में भयंकर बीमारियों के फैलने का अंदेशा है ! 
मीडिया जगत से भी मेरा अनुरोध है कि लोनी के जल प्रदूषण और वायु प्रदूषण लोनी की गंदगी और लोनी की तमाम समस्याओं से जुड़े पहलुओं को इ गंभीरता से लेते हुए नारकीय जीवन जीने के लिए मजबूर लोनी की जनता के दुख दर्द की वास्तविक तस्वीर शासन प्रशासन के समक्ष बयां करने का कष्ट करें !


तीसरी राष्ट्रीय स्वाभिमान रक्षाबंधन-यात्रा

गाजियाबाद । लोनी विधानसभा क्षेत्र के दिल्ली सहारनपुर रोड स्थित कारंवा मैरिज होंम में सहयोग द हेल्पिंग हैंड के तत्वावधान में तीसरी राष्ट्रीय सवाभिमान रक्षाबंधन यात्रा 2019 जिसमें उत्तरप्रदेश ,हरियाणा ,दिल्ली से 50 बहनो का ग्रुप सहयोग संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजेन्द्र त्यागी के नेतृत्व में लोनी से हुसैनीवाला बॉर्डर पंजाब के उदघाटन मुख्य अतिथि अखिल भारतीय कार्यकारिणी सदस्य मा. इन्द्रेश कुमार ने दीप प्रज्वलित कर किया और जाने वाली बहनो का अभिनंदन किया।सभी बहनो ने रक्षा सूत्र बाधकर और गदा स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया,आश्रीवाद लिया। इस अवसर पर स्कूली बच्चो ओर वीर रस कवियों द्वारा देश भक्ति कार्यक्रम द्वारा उत्साहवर्धन किया। कार्यक्रम में मेरठ सह प्रान्त कार्यवाह शिवकुमार ,विशिष्ट अतिथि उत्तरप्रदेश सरकार में राज्यमंत्री मा ठाकुर रघुराज सिंह ,पूर्व कैबिनेट मंत्री मां अवधपाल पाल यादव , महामंडलेश्वर भैयादास महाराज ,जिला प्रचारक विशाल कुमार , एबीवीपी प्रान्त संघटनमंत्री महेश राठौर , भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष ओमकार त्यागी खण्ड संघचालक बागेश ,लोनी विधायक नन्दकिशोर गुर्जर ,लोनी नगर पालिका चेयरमैन रंजीता धामा , वीर रस के कवि अनमोल चोहान ,डॉ अगंद धारिया ,मनोज चोहान ,यशदीप कौशिक , मोहित संगम ,सतीश एकांत ,कुलदीप महाबली ,संस्था के संरक्षक चोधरी चैनपाल सिंह , सतेन्द्र बंसल ,कृष्ण बंसल ,अमित सिंह अजय चोहान , राष्ट्रीय सलाहकार सचिन पांडे ,अमरेश चोधरी महेश प्रधान ,वीरेन्द्र प्रधान ,पवन त्यागी , राजेंद्र वर्मा ,विनय गुर्जर ,मंटू ठाकुर ,रविन्द्र पंवार ,समेत हजारो राष्ट्रवादी क्षेत्रवासी मौजूद रहे।


रेप-आत्महत्या:इंस्पेक्टर,चौकी इंचार्ज बर्खास्त

कानपुर । रायपुरवा में शुक्रवार रात आरोपियों से तंग आकर सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता नाबालिग ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। शव कमरे में फंदे से लटका मिला। पुलिस ने जब शव उठवाने की कोशिश की तो परिजन पुलिस से भिड़ गए। पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाकर करीब डेढ़ घंटे तक हंगामा किया।एसपी पूर्वी समेत अन्य अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन देकर सभी को शांत कराया। तब शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। इस मामले में एसएसपी अनंत देव ने इंस्पेक्टर रायपुरवा, चैकी प्रभारी और दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया है।


बताते चलें कि रायपुरवा निवासी एक कारपेंटर की 13 वर्षीय बेटी को 13 जुलाई को इलाकाई निवासी दो सगे भाई वासिफ और वसाफ रात को अगवा कर ले गए थे। एक अन्य दोस्त श्यामू उर्फ सम्मू के साथ मिलकर किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। 14 जुलाई को किशोरी बेसुध हालत में घर पहुंची तो परिजन थाने गए।
परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। कई बार चक्कर लगाने के बाद 27 जुलाई को रायपुरवा पुलिस ने एफआईआर दर्ज की लेकिन अभी तक एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई।
शुक्रवार रात करीब साढ़े आठ बजे सभी परिजन घर के बाहर थे इसी दौरान पीड़िता ने कमरे में दुपट्टे के सहारे फांसी लगा ली। एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल, सीओ अनवरगंज सहित आधा दर्जन थानों का फोर्स वहां पहुंची पर आक्रोशित परिजन शव न उठाने पर अड़ गए। करीब डेढ़ घंटे तक बवाल चलता रहा। रात करीब दस बजे सभी को शांत कराया गया। तब शव उठाया गया।


शहर में फैली अफवाह, लोगों में दहशत

शहर मे फैली अफवाह लोगों मे दहशत 


फिरोजाबाद । शहर मे इस समय बच्चा चोरों की अफवाह से हड़कंप मचा हुआ हे हर जगह कोई कहता हे फला जगह से बच्चा गायब हे तो कोई अन्य जगह बताता हे जबकि ऐसी कोई बात नही हे प्रशासन को इस पर तुरंत स्पष्टीकरण देना चाहिये एवम इस प्रकार की अफवाह फेलाने वालो पर कार्यवाही करनी चाहिये सोशल मीडिया पर एक बीडीओ वाइरल हो रहा हे जिसके कारण लोगों मे भय व्याप्त हे इस तरह के विडिओ वाइरल करने वालो के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जरूरत हे


फ़िरोज़ाबाद बच्चा चोरी को लेकर हो रहे निर्दोष पर पिटाई के मामले में पुलिस ने की एडवाइजरी जारी,एसएसपी ने लोगो से अपील की किसी अफवाहों में न पड़े,और न ही कोई गलत पोस्ट डाले,गौरतलब है फ़िरोज़ाबाद में पिछले 3 दिनों से बच्चा चोर गिरोह पर लोगो मे अफवाह फेल रही है,और शक के आधार पर भीड़ किसी को भी पीट रही है,पुलिस ने साफ किया मारपीट करने वाले लोगो पर होगी सख्त करवाई


संवाददाता रिहान अली


सोफिया की सड़कों पर,लोगों के बीच

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हाटने के ऐलान के बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल शनिवार को अनंतनाग पहुंचे। यहां उन्होंने स्थानीय लोगों से मुलाकात की और उनके साथ बातचीत भी की। डोभाल ईद के लिए भेड़ों की मंडी में भी पहुंचे। जहां उन्होंने भेड़ों को बचेने वाले चरवाहों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने चरवाहे से कुछ देर तक बात की। इससे दो दिन पहले डोभाल को शोपियां की सड़को पर आम लोगों से बातचीत की और उनके खाना भी खाया। इससे पहले शुक्रवार को उन्होंने श्रीनगर शहर का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने दो घंटे तक सैनिकों और स्थानीय लोगों से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने उनकी समस्याओं पर चर्चा की। अजित डोभाल ने लोगों को आश्वासन दिया कि आपके बच्चे सुरक्षित रहें यह हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि आपकी सलामती हमारी जिम्मेदारी है। इतना ही नहीं अजीत डोवल ने आम कश्मीरियों के साथ बातचीत करते हुए उनके साथ भोजन भी किया।  बता दें ईद के मौके पर कश्मीर के सड़कों पर लोग नजर आ रहे हैं।  हालांकि आतंकवाद प्रभावित जिलों में अब भी फूंक-फूंक  कर कदम उठाए जा रहे हैं।


कहर:बरसात ने ली 108 लोगों की जान

नई दिल्ली। देश के कई राज्यों में बारिश और बाढ़ ने कहर मचा रखा है। केरल, गुजरात, कर्नाटक, महाराष्ट्र में 108 लोगों की मौत हो चुकी है। सिर्फ केरल में ही मृतक संख्या 42 हो गई है, वहीं करीब एक लाख लोगों को राज्य के बाहर 800 से अधिक राहत शिविरों में भेजा गया है। मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने शनिवार को यह जानकारी दी। मृत 42 लोगों में से 11 वायनाड के हैं। बाढ़ पर समीक्षा बैठक के बाद विजयन ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि आठ प्रभावित जिलों में भूस्खलन की 80 घटनाओं की सूचना मिली है, जिससे सर्वाधिक क्षति पहुंची है। इनमें वायनाड जिले का मेप्पादी, मल्लपुरम जिले का कवलपारा शामिल हैं। विजयन ने कहा, अधिकारी अभी भी लापता लोगों की सटीक संख्या का पता नहीं लगा पा रहे हैं। शनिवार सुबह गुजरात के मोरबी में बारिश के चलते एक दीवार गिर गई, जिसमें 8 लोगों की मौत हो गई है। महाराष्ट्र के दो लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। सांगली और कोल्हापुर जिले बाढ़ से सर्वाधिक प्रभावित हुए हैं। पश्चिमी महाराष्ट्र के बाढ़ प्रभावित सांगली जिले में भारतीय नौसेना के 12 बचाव दलों को तैनात किया जा रहा है। कर्नाटक में कृष्णा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है। 51 तहसीलों में 44 हजार लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया। 272 राहत शिविरों में करीब 17 हजार लोगों को रखा गया।


भाजपा विधायक:बहू ने लगाया रेप का आरोप

नई दिल्ली । दिल्ली में बीजेपी के पूर्व विधायक मनोज शौकीन पर उनकी बहू ने रेप का आरोप लगाया है। बीजेपी से 2 बार विधायक रहे मनोज शौकीन के खिलाफ उनकी बहू ने पश्चिम विहार थाने में FIR दर्ज करवाई है।आरोप है कि पूर्व विधायक ने 31 दिसंबर 2018 और 1 जनवरी 2019 की रात के बीच की रात बंदूक की नोक पर अपनी बहू के साथ रेप की घटना को अंजाम दिया।


पूर्व विधायक मनोज शौकीन मुंडका और नांगलोई जाट से एमएलए रहे हैं। एफआईआर में पीड़िता ने कहा है कि 31 दिसंबर 2018 को उनके परिवार की एक होटल में पार्टी थी। पार्टी के बाद वो अपने पति के घर गई तो लगभग आधी रात को उनके ससुर ने रिवॉल्वर की नोक पर उसके साथ दुष्कर्म को अंजाम दिया। पीड़िता ने एफआईआर में दिल्ली पुलिस से इंसाफ की गुहार लगाई है। पीड़िता की ये एफआईआर दिल्ली पुलिस ने 8 अगस्त 2019 को दर्ज की है।


पुलिस के अनुसार, शौकीन के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 376 और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया है।पुलिस उपायुक्त (आउटर) सेजू पी. कुरुविला ने कहा, “हमने मामले की जांच शुरू कर दी है और उचित कार्रवाई की जाएगी।


निम्नआय वालों को मिलेंगे ₹6 हजार वार्षिक

फतेहाबाद । मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार उन सभी परिवारों के बैंक खातों में 6 हजार रुपए वार्षिक भिजवाएगी, जिनकी सालाना आमदनी 1.80 लाख रुपए तक है। मुख्यमंत्री यहां सब्जी मंडी में हरियाणा के समस्त ओड समाज की ओर से आयोजित महर्षि भागीरथ जयंती के प्रदेश स्तरीय कार्यक्रम को बतौर मुख्यातिथि संबोधित कर रहे थे।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने गरीब परिवारों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं शुरू की हैं, जिनके लिए उन्हें नाममात्र प्रीमियम देना पड़ता है। लेकिन कई बार गरीब परिवार अपनी जेब से प्रीमियम की अदायगी नहीं कर पाता जिससे उन्हें योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता है।12 रुपए व 330 रुपए सालाना की बीमा योजनाएं, पेंशन योजना व फसल बीमा आदि योजनाओं के प्रीमियम की अदायगी जरूरतमंद परिवारों के बैंक खातों से अपने आप हो जाए इसके लिए सरकार 1.80 लाख रुपये सालाना आमदनी वाले परिवारों के खातों में 6 हजार रुपए वार्षिक डलवाने की नई योजना शुरू करने जा रही है। इस दौरान उन्होंने कुरुक्षेत्र में भागीरथ मंदिर या धर्मशाला बनवाने की मांग पर मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज धर्मशाला के लिए कहीं भी 500 गज जगह चिह्नित कर लें, सरकार धर्मशाला बनवाएगी।


कच्ची शराब के विरुद्ध,चलाया अभियान

कच्ची शराब के विरूद्ध निघासन पुलिस ने छेडा मोर्चा


लखीमपुर खीरी । पुलिस अधीक्षक जनपद लखीमपुर खीरी व अपर पुलिस अधीक्षक व क्षेत्राधिकारी निघासन  प्रभारी निरीक्षक कोतवाली निघासन दीपक शुक्ला के निर्देशन में चलाए जा रहे अवैध कच्ची शराब की रोकथाम हेतु व  आगामी रक्षाबंधन बकरीद स्वतंत्रता दिवस के पर्व को  देखते हुए कोतवाली निघासन के पहले हल्का नम्बर में पड़ने वाले ग्राम चखरा के भगहर नदी के किनारे जाकर। कच्ची शराब के विरुद्ध जारी अभियान में लगभग एक हजार किलोग्राम से अधिक लहन व कच्ची शराब बनाने के उपकरण को मौके पर ही नष्ट किया गया। हेड कांस्टेबल जयप्रकाश यादव हेड कांस्टेबल नीरज चतुर्वेदी कांस्टेबल मृत्युंजय पांडे व कांस्टेबल रवि पाठक के द्वारा अभियान को सफल बनाया गया ।


रोहित कुमार गोस्वामी


मुठभेड़ में 50 हजार का इनामी घायल

पुलिस मुठभेड़ में 50 हजार रुपये का एक ईनामी बदमाश घायल


गाजियाबाद । थाना कविनगर पुलिस  चैकिंग डबल टंकी के पास थाना क्षेत्र कविनगर में समय करीब 11:30 बजे  एक मोटरसाइकिल पर सवार 02 संदिग्ध व्यक्ति को रोकने का इशारा किया गया पर नही रुके तथा भागते हुए जान से मारने की नियत से पुलिस पार्टी पर फायर किया गया, पुलिस पार्टी की जवाबी फायरिंग में बदमाश *धर्मेन्द्र उर्फ टिंडी पुत्र इन्द्रपाल निवासी भरतपुर, राजस्थान* गोली लगने से घायल हो गया है। जिसको गिरफ्तार किया गया है। मुठभेड़ के दौरान एक मुख्य आरक्षी पंकज भी घायल हो गया है  दोनों को उपचार हेतु अस्पताल में भर्ती किया गया है। उक्त अभियुक्त का एक साथी मौके से भागने मे सफल रहा, जिसकी तलाश जारी है।


सुरेंद्र भाटी


अमेरिका,रूस,चीन ने किया समर्थन

यूएन, अमेरिका और चीन के बाद अब रूस ने भी भारत के फैसले का किया समर्थन।


नई दिल्ली । जम्मू-कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाने का फैसला भारत के संविधान के दायरे में।अमेरिका और संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीर मसले को द्विपक्षीय तरीके से सुलझाने को कहा। पाकिस्तान कश्मीर मसले को हर अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठाने के लिए एड़ी चोटी की कोशिश कर रहा है मगर उसे उम्मीद की कोई किरण दिखाई नहीं दे रही है। शुक्रवार को पाकिस्तान की कोशिशों को उस समय झटका लगा जब संयुक्त राष्ट्र, अमेरिका और चीन ने उसका साथ देने से मना कर दिया। दरअसल, पाकिस्तान भारत सरकार के अनुच्छेद 370 को हटाने और जम्मू-कश्मीर को दो हिस्सों में बांटकर केंद्र शासित प्रदेश बनाने के फैसले के खिलाफ अतंरराष्ट्रीय हस्तक्षेप या मध्यस्थता चाहता है।वहीं शनिवार को अनुच्छेद 370 पर भारत सरकार के फैसले का रूस ने भी समर्थन किया है। रूस के विदेश मंत्रालय का कहना है कि जम्मू-कश्मीर में जो भी परिवर्तन किए गए हैं वह भारतीय गणराज्य के संविधान के ढांचे के तहत किया गया है।रूस के विदेशा मंत्रालय ने कहा है, हम भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों के सामान्यीकरण का समर्थक है। हमें उम्मीद है कि उनके बीच के मतभेदों को द्विपक्षीय आधार पर राजनीतिक और राजनयिक तरीकों से हल किया जाएगा। हमें उम्मीद है कि भारत और पाकिस्तान, भारत द्वारा जम्मू-कश्मीर में किए गए बदलाव के बाद किसी तरह के तनाव को बढ़ावा नहीं देंगे।


पाकिस्तान ने यूएन से लगाई गुहार


इससे पहले छह अगस्त को पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र (यूएन) को पत्र लिखा था। मगर यूएन ने उसकी अपील को खारिज कर दिया। पाकिस्तान को सबसे बड़ा झटका चीन ने दिया जो उसका हर परिस्थिति में साथ देने वाला सहयोगी माना जाता है। भारत के कुछ कूटनीतिक कदमों ने इस बात को सुनिश्चित किया कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् (यूएनएससी) पाकिस्तान के उस पत्र का संज्ञान न ले जिसमें उसने जम्मू कश्मीर के मसले पर हस्तक्षेप करने की मांग की थी। छह अगस्त को यूएनएससी और यूएन महासभा की अध्यक्ष को लिखे पत्र में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने हस्तक्षेप की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत ने संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन किया है इसलिए इसमें हस्तक्षेप किया जाना चाहिए। पाकिस्तान ने दलील दी थी कि भारत ने जम्मू-कश्मीर को अनौपचारिक तरीके से विलय किया है और यह यूएनएससी के प्रस्ताव 48 का उल्लंघन है।


अमेरिका और चीन ने भी लगाई लताड़


यूएनएससी ने पाकिस्तान के अनुरोध को खारिज करते हुए उसे शिमला समझौता की याद दिलाई। जिसके तहत कश्मीर मसला भारत और पाकिस्तान का द्विपक्षीय मसला है और इसमें तीसरा पक्ष हस्तक्षेप नहीं कर सकता है। पाकिस्तान को अमेरिका से भी राहत नहीं मिली। यहां विदेश विभाग के प्रवक्ता मे कहा कि कश्मीर पर अमेरिकी नीति में कोई बदलाव नहीं है जो प्रत्यक्ष तौर पर द्विपक्षीय वार्ता के लिए कहता है। अंत में चीन ने पाकिस्तान का समर्थन करने से मना कर दिया और कहा कि वह भारत और पाकिस्तान को मैत्रीपूर्ण पड़ोसी मानता है और चाहता है कि वह कश्मीर मसले को यूएन के प्रस्ताव और शिमला समझौते के तहत सुलझाए।


परीक्षण के दौरान विस्फोट,5वैज्ञानिक मरे

रूस । सुदूर उत्तरी क्षेत्र के एक सैन्य ठिकाने पर उपकरणों के परीक्षण के दौरान हुए धमाके में पांच परमाणु वैज्ञानिकों की मौत हो गई। धमाके के बाद घटनास्थल से परमाणु रेडिएशन फैलने की भी खबर है। रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर यह जानकारी दी।मंत्रालय ने बताया कि घटना में रक्षा मंत्रालय के छह कर्मचारी और डेवलेपर घायल हुए हैं जबकि पांच विशेषज्ञों की मौत हुई है। सैन्य ठिकाने पर विकिरण का स्तर सामान्य है।आर्खान्गलेस्क क्षेत्र की प्रवक्ता ने एएफपी को बताया कि विकिरण रोकने के उपाय किए जा रहे हैं। एक सप्ताह के भीतर दूसरी बार इस तरह की घटना है। इससे पहले साइबेरिया के एक आयुध डिपो में सोमवार को आग लग गई थी।


सवा लाख,50हजार के इनामी बदमाश ढेर

मेरठ। मेरठ जोन उत्तर प्रदेश में पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ 'ऑपरेशन क्लीन' चलाया हुआ है। जिसमें मेरठ जोन में दो अलग-अलग मुठभेड़ों में बागपत एवं सहारनपुर में क्रमशः 1.25 लाख व पचास हजार के ईनामी बदमाश को ढेर कर दिया।


जनपद बागपत में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हुई है. जिसमें पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी। पुलिस ने एनकाउंटर के दौरान 1.25 लाख रुपये के इनामी बदमाश को मार गिराया है। हालांकि एक बदमाश मौके से भागने में कामयाब हुआ है। इस मुठभेड़ में एक कांस्टेबल भी घायल हुआ है, जबकि एसओ रमेश सिंह सिंधू बाल-बाल बचे हैं, उनकी बुलेट प्रुफ जैकेट में गोली घुस गई थी।जिले के दोघट थाना क्षेत्र के टीकरी गांव के जंगल में एनकाउंटर हुआ है। पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ में मारे गए इनामी बदमाश विकास उर्फ फोनी पर 12 से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज थे। उस पर बागपत और मेरठ से इनाम घोषित था। पुलिस ने बताया कि मुठभेड़ में एक सिपाही को भी गोली लगी है। उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।विकास विद्युत विभाग के साथ डकैती,मेरठ से हत्या तथा अन्य मामलों में वांछित था। बदमाश के असारा गाँव में किसी की हत्या करने की सूचना थी. मृतक बदमाश से एक मोटर साइकिल,32 बोर की पिस्टल व भारी मात्रा में कारतूस बरामद हुआ है।


वहीं, सहारनपुर में शुक्रवार देर रात कोतवाली देहात पुलिस ने 50 हजार के इनामी मोहम्मद हाफिज़ को ढेर कर दिया। जानकारी के मुताबिक मुजफ्फरनगर के चरथावल का रहने वाला हाफिज चिलकाना पुलिस पर फायरिंग कर के भाग रहा था। इस दौरान दो पुलिसकर्मियों को भी गोली लगी है। दोनों पुलिसकर्मियों को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया जा रहा है कि मारा गया बदमाश मोहम्मद हाफिज मुकीम काला गैंग का सदस्य था।


एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि चेकिंग अभियान के दौरान चिलकाना एसएचओ का वायरलेस आया की दो बदमाश मोटरसाइकिल पर हमारी गाड़ी पर फायर कर आगे भाग रहे हैं। सूचना मिलते ही वाहनों की चेकिंग के दौरान दो बदमाश मोटरसाइकिल पर आते दिखे। एसएसपी के मुताबिक बदमाशों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में एक बदमाश को गोली लगी, जबकि उसका साथी भागने में सफल रहा। घायल बदमाश को इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक हाफिज मुकीम काला गैंग का एक शातिर किस्म का अपराधी था। जिसकी गिरफ्तारी पर ₹50हजार का इनाम घोषित था। इसके विरुद्ध जनपद मुजफ्फरनगर, गौतमबुद्ध नगर, मेरठ एवं सहारनपुर जिलों के कुल 2 दर्जन से ज्यादा अभियोग पंजीकृत हैं। मृतक हाफिज के कब्जे से एक पिस्टल 9mm व एक पिस्टल 32 बोर बरामद हुआ है।


हत्या आरोपी कैदी,पेशी से हुआ फरार

हत्या के आरोप में सजा काट रहा कैदी रात में ट्रेन से हुआ फरार, सुबह पुलिस ने पैर में मारी गोली


महाेबा । जिला कारागार में हत्या के मामले में सजा काट रहा एक कैदी, कानपुर से पेशी से लौटते समय ट्रेन से कूद कर फरार हो गया। कैदी के फरार होते ही पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। आननफानन में कैदी को ढूंढने के लिए पुलिस बल भेजा गया।
महोबा में हत्या के मामले में सजा काट रहे कैदी मदनपाल 24 निवासी ग्राम करहरा कानपुर से पेशी कराकर ट्रेन से गुरुवार की रात करीब 11 बजे लौट रहा था। इसी दौरान वो बाथरूम के बहाने ट्रेन से कूदकर भाग निकला। रातभर पुलिस कैदी को ढूंढने के लिए उसका पीछा करती रही। शुक्रवार को सुबह 10 बजे पीछा करते हुए पुलिस ने कैदी के पैर में गोली मारी। जिससे वो घायल होकर गिर पड़ा। पुलिस ने कैदी को अस्पताल में भर्ती कराया है।


200 के खिलाफ मोबलीचिंग का मामला

मॉब लिंचिंग पर 200 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज


आगरा । देशभर में मॉब लिंचिंग के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। इस बीच, उत्तर प्रदेश पुलिस ने आगरा में मॉब लिंचिंग में 200 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इन पर आरोप है कि एक व्यक्ति के बच्चा चोर होने के संदेह में उसकी पिटाई की गई थी।


 मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आगरा में मंगलवार को मॉब लिचिंग हुई थी, लेकिन बुधवार को जब मारपीट का वीडियो फुटेज सामने आया तो पुलिस ने इस मामले में संज्ञान लिया। आगरा सर्कल ऑफिसर (सदर) विकास जायसवाल ने बताया कि 200 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस घटना के वीडियो फुटेज की मदद से आरोपियों की पहचान की जा रही है।पुलिस का कहना है कि आरोपी लोगों की पहचान होने के बाद गिरफ्तारी होगी। विकास जायसवाल ने कहा कि स्थानीय पुलिस इस संबंध में निवासियों के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए प्रयास कर रही है। बच्चे को उठाने की घटनाओं से संबंधित किसी भी गतिविधि के मामले में लोगों को पुलिस को जानकारी देने के लिए कहा जा रहा है।बच्चा चोरी के संदेह पर बुधवार को मॉब लिंचिंग की यह घटना आगरा जिले में होने वाली दूसरी ऐसी घटना थी। पुलिस ने इससे पहले एक 60 वर्षीय मानसिक विक्षिप्त महिला की बच्चा चोर होने के संदेह में पिटाई करने के आरोप में 9 युवकों को गिरफ्तार किया था।बता दें ऐसी ही घटना बिहार के दानापुर के रूपसपुर से सामने आई थी, जहां बच्चा चोरी के आरोप में तीन लोगों को पिटाई कर दी थी। भीड़ ने लोगों को इतना पीटा कि एक शख्स की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि दो लोग बुरी तरह से घायल हैं। घायलों को इलाज के लिए अनुमंडल अस्पताल दानापुर में भर्ती कराया गया, जबकि पुलिस ने मृत शख्स के शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है।


कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक आयोजित

नई दिल्ली । कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की शनिवार को बैठक होने जा रही है।दिल्ली स्थित कांग्रेस मुख्यालय में यह बैठक शुरू हो गई है। बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा एवं निर्णय होने की संभावना है। चार राज्यों में विधानसभा चुनाव को भी ध्यान में रखा गया है। काफी दिनों से कांगेस  शिथिलता के चरम पर पहुंच गई थी। लेकिन अब कांग्रेस  कूटनीति और रणनीति के आधार पर आगे बढ़ने की तैयारी में दिख रही है। राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद कांग्रेस में भारी परिवर्तन की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। इसी परिवर्तन का कांग्रेस को कहीं न कहीं लाभ भी मिलेगा। कांग्रेसका पुनर्गठन और विचारधारा को तेजी से बढ़ाने के लिए,जनाधार को बढ़ाने के लिए, कांग्रेस कई प्रकार के परिवर्तन कर सकती है।अब देखना यह है कि कांग्रेस के द्वारा किए गए परिवर्तन,भावी निर्णय धरातल पर किस प्रकार उतरते हैं, और किस प्रकार स्थाई रूप से कार्य करते हैं। इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए राहुल गांधी, सोनिया गांधी समेत कई नेता शामिल हुए हैं, कहा जा रहा है कि इस बैठक में नेताओं से अध्यक्ष के नाम पर भी सलाह ली जाएगी और चर्चा की जाएगी।


'शांति' से खेलने वाले को खत्म कर देगे

श्रीनगर ।कश्मीर में धारा 370 क्या हटी पाकिस्तान के पेट में दर्द हो गया।पड़ोसी देश अब कश्मीर को किसी भी तरीके से अशांत करने पर जुट गया है। लेकिन भारतीय सेना भी उसकी हरकतों को लेकर पूरी तरह तैय्यार है।भारतीय सेना ने साफ साफ चेतावनी दी है कि कश्मीर में किसी ने भी शांति बाधित की तो उसे हर हाल में खत्म कर दिया जाएगा ।सेना की चिनार कॉर्प्स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लों ने कहा, पाकिस्तान और उसकी सेना कश्मीर में अशांति फैलाने में माहिर रहे हैं औऱ वे फिर ऐसा करने से बाज नहीं आएंगे। सेना हर तरह के हालात का सामना करने के लिए तैय्यार है और अगर किसी ने भी कश्मीर की स्थिति बिगाड़ने की कोशिश की तो हम उसे खत्म कर देंगे।


एससी:बोर्ड के वकील की आपत्ति खारिज

अयोध्या विवाद: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की वक्फ बोर्ड के वकील की आपत्ति


नई दिल्ली । अयोध्‍या के बाबरी मस्जिद-राम मंदिर भूमि विवाद मामले की रोजाना सुनवाई पर सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील की ओर से एतराज को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। वक्फ बोर्ड के वकील की ओर से कहा गया है कि जितनी तैयारी इस केस की तारीख के लिए करनी होती है, उसे देखते हुए हफ्ते में पांच दिन सुनवाई ज्यादा है। इस पर विचार के बाद सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि सुनवाई हफ्ते में पांच दिन चलती रहेगी।


सुप्रीम कोर्ट छह अगस्त से अयोध्या भूमि विवाद मामले में हफ्ते में पांच दिन सुनवाई कर रहा है। शुक्रवार को जब अदालत में मामले का सुनवाई शुरू हुई तो सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन ने चीफ जस्टिस के सामने अपनी बात रखते हुए हफ्ते में पांच दिन सुनवाई के लिए वो खुद को असमर्थ पा रहे हैं। धवन ने अदालत से कहा कि ये लंबे समय तक चलने वाला केस है।वकील के तौर पर बहुत तैयारी करनी होती है, काफी सारे दस्तावेजों का अनुवाद करना होता है, उन्हें पढ़ना होता है। ऐसे में रोज सुनवाई पर अदालत विचार करे। धवन की ओर से रखी गई बात सुनने के बाद चीफ जस्टिलस रंजन गोगोई ने कहा है कि इस पर हम आपको बताएंगे। बाद में सीजेआई ने साफ किया कि सुनवाई रोजाना होगी।अयोध्‍या के बाबरी मस्जिद-राम मंदिर भूमि विवाद को आपसी सहमति से सुलझाने के लिए बनाई गई मध्यस्थता समिति के मामले का कोई हल ना खोज पाने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर छह अगस्त से हर रोज सुनवाई शुरू की है। अयोध्या विवाद की सुनवाई चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता में सदस्यीय पीठ कर रही है। पीठ में सीजेआई गोगोई के साथ जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एसए नजीर शामिल हैं।


जम्मू-कश्मीर में जमीन खरीदने की होड़

जम्मू कश्मीर में जमीन खरीदने की मची होड़


श्रीनगर । अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए खत्म किए जाने के बाद देशभर के लोगों में जम्मू कश्मीर में जमीन खरीदने के लिए लोगों में होड़ मच गई है। हालात यह हैं कि जम्मू कश्मीर के हर डीलर के पास हर रोज पूरे देश से 20 से ज्यादा कॉल आ रही हैं। कॉल करने वाला हर व्यक्ति जम्मू और कश्मीर में जमीन के रेट पता कर रहा है।


अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए खत्म किए जाने से जम्मू कश्मीर के प्रॉपर्टी डीलर्स में खुशी का माहौल है। जम्मू में महाजन प्रॉपर्टी डीलर एंड बिल्डिंग मैटेरियल के मालिक कुणाल गुप्ता ने मनी भास्कर से बातचीत में बताया कि उन्हें अब स्थिति सामान्य होने का इंतजार है। कुणाल ने बताया कि दिल्ली, बंबई, लखनऊ समेत देश के सभी बड़े शहरों से उनके पास रोजाना 15 से 20 कॉल्स आ रहे हैं। फोन करने वाले सभी लोग जम्मू और कश्मीर में जमीनों का भाव पता कर रहे हैं।कुणाल ने बताया कि अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए खत्म होने से यहां प्रॉपर्टी खरीदने-बेचने का कार्य करने वाले लोगों में खुशी का माहौल है। सभी लोगों का मानना है कि अब दूसरे राज्यों के लोग भी यहां पर जमीन खरीद सकेंगे और उनके कारोबार में बढ़ोतरी होगी। कुणाल का कहना है कि अधिकांश लोग कश्मीर में जमीन खरीदने के बारे में जानकारी ले रहे हैं, लेकिन वहां यह कारोबार अभी पूरी तरह से बंद पड़ा है। हालात सामान्य होने के बाद वहां पर जमीनों के रेट नए सिरे से तय होंगे।


जम्मू में प्रॉपर्टी डीलिंग का कारोबार करने वाले विक्की शाह ने मनी भास्कर से फोन पर बातचीत में कहा कि जम्मू शहर में खाली प्लॉट बड़ी मुश्किल से मिल पाते हैं। हां, यहां आप 1 बीएचके से लेकर 4 बीएचके का मकान आसानी से खरीद सकते हैं। शाह के अनुसार, शहर में 2बीएचके का घर 45 से 60 लाख रुपए में मिल जाता है। हालांकि, घर की बनावट, इंटीरियर, जमीन की उपलब्धता के आधार पर यह कीमत ज्यादा भी हो सकती है।


क्रियान्वयन सुनिश्चित करने का आदेश

लखनऊ ।  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बार-बार अफसरों से मीटिंग में तैयारी के साथ आने, मीटिंग के पहले जरूरी सूचनाएं उपलब्ध कराने और बैठक में लिए गए निर्णय पर कार्यवाही की तय समय पर सूचना देने का निर्देश देते रहे हैं। पर, अफसर हैं कि मानते ही नहीं। मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारियों की इस कार्यशैली पर कड़ी नाराजगी जाहिर की है और नए सिरे से दिशानिर्देश जारी कर अनुपालन सुनिश्चित करने को कहा है। शासन के एक आला अधिकारी ने बताया कि मुख्यमंत्री की बैठक सर्वोच्च स्तर पर निर्णय के लिए होती है। ऐसे में वहां विभाग का नेतृत्व करने वाले विभाग और शासन के अफसरों को ही आना चाहिए। मगर, अभी भी कई बार कनिष्ठ अधिकारियों को बैठक में भेज दिया जाता है जो स्पष्ट राय भी नहीं दे पाते हैं। समय-समय पर यह बात भी सामने आती है कि जिस विषय पर मुख्यमंत्री बैठक ले रहे हैं, उसके विभागीय मंत्री को सूचना तक नहीं है। मुख्यमंत्री ने इस पर अप्रसन्नता व्यक्त की है। इसी तरह मुख्यमंत्री के सामने प्रजेंटेशन से जुड़े प्रकरण से जानकारी एक दिन पहले मुख्यमंत्री कार्यालय को उपलब्ध कराने तथा बैठक में लिए गए निर्णय से जुड़े कार्यवृत्त को मुख्यमंत्री के अनुमोदन के लिए अधिकतम तीन दिन में भेजने के निर्देश हैं। इन निर्देशों का भी पालन नहीं हो पा रहा है। मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय ने मुख्यमंत्री के निर्देशों के क्रम में समस्त अपर मुख्य सचिवों, प्रमुख सचिवों व सचिवों को इस संबंध में विस्तृत दिशानिर्देश जारी कर उनका क्रियान्वयन सुनिश्चित कराने को कहा है।
अफसरों को इस तरह करना होगा काम- मुख्यमंत्री की बैठक में अपर मुख्य सचिव, प्रमुख सचिव व सचिव स्तर के अधिकारी व विभागाध्यक्ष स्तर के अधिकारी ही विषय की संपूर्ण जानकारी के साथ उपस्थित हों। कनिष्ठ अधिकारी अपरिहार्य स्थिति में ही मुख्यमंत्री की बैठक में सम्मिलित हो सकेंगे। बैठक का एजेंडा, शामिल होने वाले अधिकारियों की सूची व प्रजेंटेशन एक दिन पहले सीएम कार्यालय भेजा जाए। बैठक के कार्यवृत्त अधिकतम तीन दिन में मुख्यमंत्री कार्यालय को अनुमोदन करना होगा। मुख्यमंत्री के स्तर पर लिए जाने वाले निर्णयों के मुद्दे स्पष्ट रूप से इंगित किए जाएं। अंतर-विभागीय समन्वय के लिए मुख्यमंत्री के स्तर से प्राप्त किए जाने वाले निर्देशों को स्पष्ट रूप से इंगित किया जाए।


नाबालिग रेप पीड़ित ने की आत्महत्या

आरोपियों से तंग आकर सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता ने की खुदकुशी, दो सगे भाइयों पर हुआ था केस दर्ज


रायपुरवा । शुक्रवार रात आरोपियों से तंग आकर सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता नाबालिग ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। शव कमरे में फंदे से लटका मिला। पुलिस ने जब शव उठवाने की कोशिश की तो परिजन पुलिस से भिड़ गए। पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाकर करीब डेढ़ घंटे तक हंगामा किया। एसपी पूर्वी समेत अन्य अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन देकर सभी को शांत कराया। तब शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। रायपुरवा निवासी एक कारपेंटर की 13 वर्षीय बेटी को 13 जुलाई को इलाकाई निवासी दो सगे भाई वासिफ और वसाफ रात को अगवा कर ले गए थे। एक अन्य दोस्त श्यामू उर्फ सम्मू के साथ मिलकर किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। 14 जुलाई को किशोरी बेसुध हालत में घर पहुंची तो परिजन थाने गए। परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। कई बार चक्कर लगाने के बाद 27 जुलाई को रायपुरवा पुलिस ने एफआईआर दर्ज की पर, अभी एक भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई।
शुक्रवार रात करीब साढ़े आठ बजे सभी परिजन घर के बाहर थे, तभी पीड़िता ने कमरे में दुपट्टे के सहारे फांसी लगा ली। एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल, सीओ अनवरगंज सहित आधा दर्जन थानों का फोर्स पहुंचा पर, आक्रोशित परिजन शव न उठाने पर अड़ गए। करीब डेढ़ घंटे तक बवाल चलता रहा। रात करीब दस बजे सभी को शांत कराया गया। तब शव उठाया गया। दो महिलाएं हिरासत में पुलिस ने पीड़िता के पड़ोस की दो महिलाओं को हिरासत में लिया है। एसएसपी अनंत देव का कहना है कि दो दिन पहले इन महिलाओं ने पीड़िता को दुष्कर्म की बात कहकर चिढ़ाया था। पुलिस के मुताबिक आशंका है कि इसी से क्षुब्ध होकर पीड़िता ने सुसाइड की। परिजनों का कहना है कि पुलिस ने आरोपियों पर कार्रवाई नहीं की। उनकी धमकियों की डर से ही उनकी बेटी ने खुदकुशी की। दो महिलाएं हिरासत में हैं। जांच जारी है और आरोपियों की भी तलाश की जा रही है। जो तहरीर मिलेगी, उस आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।


विधायक-सांसदों के लिए,आचार संहिता:नायडू

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को सुझाव दिया कि राजनीतिक दलों को अपने सांसदों और विधायकों के लिए आचार संहिता बनानी चाहिए ताकि संसद और विधानसभाओं में उनके व्यवहार पर निगरानी रखी जा सके। राज्यसभा के सभापति ने कहा कि राजनीतिक दलों को अपने चुनावी घोषणापत्र में एक संहिता शामिल करनी चाहिए जिससे मतदाताओं को मतदान से पहले उनका फैसला लेने में मदद मिलेगी।


उन्होंने कहा कि आचार संहिता में ये शर्त शामिल होनी चाहिए कि सदस्य आसन के समीप नहीं आएंगे, नारेबाजी नहीं करेंगे तथा कामकाज अवरुद्ध नहीं करेंगे या कागज फाडऩे और सदन में उन्हें उछालने जैसा अशोभनीय बर्ताव नहीं करेंगे। नायडू ने सत्तारूढ़ पार्टी और विपक्ष के बीच संसद के अंदर और बाहर दोनों जगह अधिक समन्वय की वकालत की ताकि महत्वपूर्ण विधेयकों पर सहमति बनाने में मदद मिल सके। उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि मेरा सुझाव है कि राजनीतिक दलों को अपने सांसदों के लिए एक आचार संहिता बनानी चाहिए ताकि उनके व्यवहार पर निगरानी रखी जा सके। उपराष्ट्रपति ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि सभी राजनीतिक दलों के नेता और सांसद संसद में कामकाज के महत्व की सराहना करेंगे और हाल ही में संपन्न सत्र के सकारात्मक माहौल को कायम रखेंगे। नायडू ने कहा कि राजनीतिक दल केवल प्रतिद्वंद्वी होते हैं, दुश्मन नहीं। उनकी राय है कि सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों को संसद तथा विधानसभाओं में सुगम कामकाज के लिए लगातार बातचीत करनी चाहिए। राज्यसभा सभापति ने कहा कि संसदीय लोकतंत्र जनता के प्रति जवाबदेही के माध्यम से शासन करने से जुड़ा है। नायडू ने कुछ राज्यों की विधानसभाओं में विपक्षी दलों के कामकाज का बहिष्कार करने की प्रवृत्ति पर ङ्क्षचता जाहिर की। उन्होंने विपक्ष को बाहर निकाले जाने की कुछ घटनाओं का भी उल्लेख किया। उपराष्ट्रपति ने सभी राजनीतिक दलों से संसद और विधायिकाओं में प्रभावी तरीके से कामकाज सुनिश्चित करने और गुणवत्तापूर्ण चर्चा पर ध्यान देने को भी कहा। उन्होंने कहा कि जनता के बीच भावना पनपी है कि सार्वजनिक विमर्श का स्तर गिर रहा है। नायडू ने संसद सत्र के समापन पर आयोजित एक अनौपचारिक कार्यक्रम में पत्रकारों से बातचीत में सत्र की सफलता पर संतोष प्रकट किया, जिसमें कई अहम विधेयक पारित हुए हैं। उन्होंने कहा कि इस सत्र ने संसद के कामकाज के बारे में लोगों का नजरिया बदलने में मदद की है।


मनमोहन एक बार फिर पहुंचेंगे राज्यसभा

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह एक बार फिर संसद के उच्च सदन, राज्यसभा में पहुंचेंगे। इस बार वे राजस्थान से राज्यसभा की एक सीट के लिए होने वाले उपचुनाव में कांग्रेस की तरफ से उम्मीदवार होंगे। सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस नेतृत्व ने राजस्थान से राज्यसभा की एक सीट के लिए होने जा रहे उपचुनाव के लिए सिंह को उम्मीदवार बनाने का फैसला किया है। इसी के साथ एक संक्षिप्त अंतराल के बाद सिंह का राज्यसभा फिर से पहुंचना लगभग तय हो गया है।


सूत्रों का कहना है कि सिंह आगामी 13 अगस्त को जयपुर पहुंचकर नामांकन दाखिल करेंगे। सिंह कुछ समय पहले राजस्थान विधानसभा में विधायकों के एक कार्यक्रम के समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे। इसके बाद से ही ये अटकलें शुरू हो गई थीं कि सिंह इस बार राजस्थान से ही राज्यसभा पहुंचेंगे। प्रधानमंत्री रहते हुए सिंह असम से राज्यसभा सदस्य थे और गत 14 जून को उनका कार्यकाल पूरा हुआ था। वह 1991 से 2019 तक राज्यसभा के सदस्य रहे। राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष रहे मदन लाल सैनी के निधन के कारण राजस्थान से राज्यसभा की एक सीट के लिए उपचुनाव हो रहा है।


पुलिस:चलाया स्कूल बस चेकिंग अभियान

हरिद्वार पुलिस द्वारा चलाया स्कूली बसों की चैकिंग अभियान


हरिद्वार । पुलिस द्वारा चैकिंग अभियान चलाया जा रहा है। जिसके तहत स्कूल बसों की चैकिंग की गई। दौराने चेकिंग कागजात से लेकर उसमें मुहैया कराई जाने वाली सुविधाओं की भी पूरी जांच की गई। ताकि बच्चों की सुरक्षा को पुख्ता किया जा सके। इसमें किसी भी स्तर पर कोई भी ढिलाई अथवा छूट नहीं दी जाएगी। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के निर्देशनुसार स्कूली वाहनों की दुर्घटनाओं तथा निजी बस संचालकों की मनमानी पर अंकुश लगाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। महोदय द्वारा निर्देशित किया गया है कि निर्धारित नियमों की उल्लंघन करते हुए पाए जाने पर संबंधित बस पर कार्रवाई की जाएगी। इसी क्रम में वाहन चालकों के ड्राईविंग लाईसेंस और गाड़ी के अन्य दस्तावेज भी चैक किए गए तथा बसों में फर्स्टएड बॉक्स लगवाने को कहा गया तथा बच्चों की सुरक्षा से खिलवाड़ करने वाले स्कूली बस चालकों के खिलाफ आगे भी कार्यवाही निरंतर जारी रहेगी। 


भगवा पहने मुस्लिम,प्रकाश का प्रतीक:रजा

लखनऊ । देश के स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त पर मदरसों में तिरंगा फहराकर स्वतंत्रता दिवस मनाने की मदरसा बोर्ड की एडवाइजरी का जोरदार समर्थन करने वाले प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री मोहसिन रजा ने मुसलमानों को भगवा वस्त्र पहनने की सलाह भी दी है। मंत्री ने कहा कि भगवा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की देन नहीं है बल्कि अल्लाह की देन है और भगवा प्रकाश का प्रतीक है।योगी आदित्यनाथ सरकार में हज तथा अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री मोहसिन रजा ने मुस्लिमों को सलाह दी है कि वह भगवा वस्त्र भी पहनें। उन्होंने कहा कि भगवा वस्त्र मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की देन नहीं है बल्कि अल्लाह की देन है और भगवा प्रकाश का प्रतीक है। मोहसिन रजा का कहना है कि अगर मदरसों के मौलाना और छात्र भगवा वस्त्र धारण करने लगें तो उनकी जिंदगी में उजाला आ जाएगा।मोहसिन रजा ने कहा खुदा की कसम मैं चाहता हूं कि मौलाना लोग जाएं और अच्छे-अच्छे, बड़े-बड़े अपने आलिमों से मिलें और उनसे पूछें कि भगवा जो है, वह प्रकाश का प्रतीक है। अगर वह भगवे में चले जाएं तो मुझे लगता है कि उनकी जिंदगी में उजाला आ जाएगा। मंत्री रजा ने कहा कि मुस्लिमों में एक संप्रदाय है चिश्तिया…। चिश्तिया संप्रदाय के लोग दरगाह आदि पर होते हैं। अनेक धर्मगुरु भी भगवा पहनते हैं। इसी कारण मुस्लिमों को भगवा पहनने में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए।


यूपी सरकार ने मदरसों के लिए एडवाइजरी जारी की है कि वे 15 अगस्त को तिरंगा फहराएं, राष्ट्रगान गाएं और महापुरुषों के किस्से सुनाएं. नए सरकारी नियम में गैर उर्दू भाषी भी अब मदरसे में टीचर बन सकेंगे। कई मदरसे वालों को लगता है कि यह भाजपा समर्थकों को मदरसों में टीचर बनाने की योजना का हिस्सा है। मंत्री से सवाल यह था कि आपके विरोधी कहते हैं कि सरकार मदरसों का भगवाकरण करना चाहती है। भगवा वस्त्र पर उनके जवाब इसी को लेकर था। मोहसिन रजा ने कहा कि यह तो कुदरत की देन है। अल्लाह की देन है भगवा। योगी आदित्यनाथ जी की देन नहीं है। योगी आदित्यनाथ जी ने इसको धारण किया है। तभी तो आज पूरे उत्तर प्रदेश में उजाला है योगी जी की वजह से। यह तो ईश्वर की देन है। अल्लाह की देन है।इससे पहले राज्यमंत्री मोहसिन रजा ने ने एक अन्य बयान में मदरसा बोर्ड की इस एडवाइजरी का समर्थन किया है कि मदरसों में भी तिरंगा फहराकर स्वतंत्रता दिवस मनाया जाए और राष्ट्रगान हो। इस दिन वहां के बच्चों को स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में बताया जाए। उनको भी पता होने चाहिए कि देश को आजाद कराने में किनका कितना योगदान था।


रेलवे मुख्यालय का चहेता फिजीशियन

चिकित्सा अधीक्षक एव रेलवे मुख्यालय का चहेता फिजीशियन 

कानपुर । सन 2017 में आगरा से फिजीशियन स्थान्तरण होकर कानपुर लोको चिकित्सालय आया है।इसके आने के पश्‍चात रिफलर में बेतहाशा वृद्धि हुई है।इस फिजीशियन द्वारा दूसरे डाक्टरों के केश मे भी पैसा लेकर रेफर किये जाते है। जो इस फिजीशियन के दायरे में नही आता है।कई डाक्टरों ने इसका विरोध भी किया है। लेकिन मुख्य चिकित्सा अधिक्षक का चहेता होने के कारण मामले को दबा दिया गया है।जबकि इस फिजीशियन की चालाकी की गणना पीसीडीओ' एव एनसीडीओ' में देखी जा सकती है। जो प्रयागराज मुख्यालय मुख्य चिकित्शा निदेशक को प्रत्येक माह भेजी जाती है। उसमे अवलोकन किया जा सकता है। इससे यह प्रतीत होता है। कि मुख्यालय में बैठे उच्च अधिकारी अपनी जिम्मेदारी एव कर्तव्य का निर्वाह सही ढंग से नही कर रहे है। भारत सरकार एव रेलवे बोर्डको कदाचारी फिजीशियन एवं उच्च अधिकारियों की भी जांच करवाई जाने की आवाश्यकता है।


उमेश शर्मा


 


पाक:आतंकियों को पैगाम,करो या मरो

नई दिल्ली । जम्मू- कश्मीर को लेकर लिए गए केंद्र सरकार के फैसले से पाकिस्तान बुरी तरह बौखला गया है।पाक ने भारत से व्यापारिक संबंध खत्म करने का ऐलान किया, समझौता एक्सप्रेस रोकी, भारतीय फिल्मों का प्रदर्शन बंद किया और एयर स्पेस प्रतिबंधित कर दिया वहीं आतंकवादियों को करो या मरो का भी संदेश दिया है।


सूत्रों से मीडिया को मिल रही खबरों के मुताबिक पाक की योजना के अनुसार जैश और लश्कर के आतंकी सीमा पर घुसपैठ की तैयारी में लग चुके है। खबरों की मानें तो देश के लगभग 19 एयरपोर्ट इस समय आतंकियों के निशाने पर हैं। साथ ही कई रेलवे स्टेशन व बस अड्डे और प्रमुख स्थल भी हो सकते हैं।लेकिन दूसरी तरफ ऐसी भी खबरें आ रही हैं कि अमेरिका ने पाकिस्तान को नसीहत दी है कि सीमा पर किसी भी तरह की आतंकी घुसपैठ न करे अन्यथा वह कोई मदद न करेगा। सूत्र बताते हैं की सुरक्षा और सतर्कता की दृष्टि से देश के कई राज्यों में अलर्ट जारी किया गया है।


जनपद में 1093 बलात्कार के मामले दर्ज

नई दिल्ली । कठुआ और उन्नाव रेप कांड ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया क्योंकि ये मामले दुनिया की नजर में आए, लेकिन छत्तीसगढ़ के सरगुजा में पिछले दो वर्षों में बलात्कार के 1093 मामले दर्ज हुए हैं।


इन आंकड़ों के साथ रेप के मामले में सरगुजा राज्य में सबसे ज्यादा बलात्कार वाला जिला बन गया है। लेकिन देश में तो क्या प्रदेश में ही इन मामलों पर कोई चर्चा आज तक नहीं हुई। गोया कि, लोगों की नजर में सारे ही मामले झूठे हों, हालांकि यह भी सही है कि तकरीबन आधे से ज्यादा झूठे निकलें।छग मीडिया की खबरों की मानें तो पिछले दो वर्षों में सरगुजा में होने वाले अपराधों में, जिनमें हत्या, चोरी, डकैती, मानव तस्करी, एक्ट्रोसिटी एक्ट, बलात्कार के कुल आंकड़े 2985 हैं। इनमें से सबसे ज्यादा मामले बलात्कार के ही हैं। वर्ष 2017-18 में रेप के 577 प्रकरण दर्ज किए गए हैं तो 2018-19 में अब तक ही 516 मामले सामने आ चुके हैं।देश की राजधानी दिल्ली में साल 2011 से 2016 के बीच महिलाओं के साथ दुष्कर्म के मामलों में 277 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। निर्भया कांड के बाद दिल्ली में दुष्कर्म के दर्ज मामलों में 132 फीसदी बढ़े हैं। वर्ष 2017 में अकेले जनवरी महीने में ही दुष्कर्म के 140 मामले दर्ज किए गए थे। मई 2017 तक दिल्ली में दुष्कर्म के कुल 836 मामले दर्ज किए गए।


नवीन कार्यों का बन रहा है योग:सिंह

राशिफल


मेष राशि:व्यापार-व्यवसाय अनुकूल रहेगा। परिवार में तनाव से चिंता बढ़ेगी। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रह सकती है। परोपकार में रुचि बढ़ेगी। धर्म कर्म में समय व्यतीत होगा।


वृष राशि:संतान की आजीविका संबंधी समस्या का हल होगा। किसी शुभचिंतक से मेल-मुलाकात आत्मबल मजबूत करेगी। लापरवाही से काम न करें। वाहन सुख संभव है। लक्ष्मी जी को सिंदूर और गुड़ से बने नेवेद्य अर्पण करें, विवाह बाधा दूर होगी।


मिथुन राशि:आलस त्यागें। समय पर काम करें। आप की मेहनत से व्यापार-व्यवसाय लाभप्रद रहेगा। सश्रम किए गए कार्य सफल होंगे। पारिवारिक कष्ट एवं समस्याओं का अंत संभव है। आय से अधिक व्यय न करें।


कर्क राशि:आज आकस्मिक लाभ हो सकता हे। निकटजनों की प्रगति से मन में प्रसन्नता होगी। परिश्रम से स्वयं के कार्यों में भी शुभ परिणाम मिलने की उमीद हे ।विदेश जाने के योग बनेगे।


सिंह राशि:आप को पारिवारिक जिम्मेदारी बढ़ने से व्यस्तता बढ़ेगी। आज कार्य में नवीनता के भी योग हैं। संतान के व्यवहार से समाज में सम्मान बढ़ेगा। दिन अनुकूल हे।


कन्या राशि:आप की मेहनत के अनुरूप सफलता मिलने में संदेह है। आज किसी हनुमान मंदिर में जाकर सिंदूर और तेल अर्पण करें, रुके काम बनेंगे और सफलता मिलेगी। दूसरों की झंझटों में न पड़ें।


तुला राशि:बिना सोच विचार के कोई भी काम न करें। मांगलिक आयोजनों के लिए रुपरेखा में परिवर्तन होगा। अच्छे कार्यों के लाभकारी परिणाम मिलेंगे। सामाजिक समारोहों में भाग ले सकते हैं। विरोधियो से सावधान रहें। आज माता के मंदिर में लाल चुनरी के साथ खारक भी अर्पण करें, लाभ होगा।


वृश्चिक राशि:आज आलस्य से बचकर रहें, अन्यथा बने काम बिगड़ सकते हैं। कार्यों में रुकावट आ सकती है। कार्यस्थल पर किसी के भरोसे न रहकर अपना कार्य स्वयं करें।अपनों को दूर न करें। महत्वपूर्ण कार्यों में हस्तक्षेप से नुकसान संभव है। आज लक्ष्मी माता को लाल फूल चढ़ायें कामना पूरी होगी।


धनु राशि:दिन की शुरुआत आनंदप्रद रहेगी। नौकरी में पदोन्नति के योग बन रहे हैं। समाज में अच्छे लोगों से भेंट होगी, जो आपके हितचिंतक रहेंगे। व्यापार-नौकरी में लाभ होगा। परिजनों की मदद से कार्य सम्पन्न होंगे।


मकर राशि:जिसे आप किसी काम का न समझते थे, आज वही आप के कार्यों में सहभागी बनेगा। यात्रा का योग है। रिश्तेदारों से संपत्ति संबंधी विवाद बड़ा रूप ले सकते हैं, सतर्क रहें।


कुम्भ राशि:सामाजिक कुछ लोग आप के किये कार्यों से नाखुश रहेंगे। आज कार्यों को परिजनों में प्रशंसा मिलेगी। मन में उत्साह बढ़ेगा, जिससे कार्य की गति बढ़ेगी। खर्चों में कमी करें। कानूनी विवाद निपटेंगे।


मीन राशि:आप की दिनचर्या का बदलाव होगा। भागीदारी में आपके द्वारा लिए गए निर्णयों से लाभ संभव है। रचनात्मक अथवा व्यापारिक कार्यों से आर्थिक लाभ होगा। नवीन योजनाओं में निवेश संभव है।


डिजिटल इंडिया चुनौती और बाधाएं

भारत सरकार की संस्था 'भारत ब्रॉडबैंड नेटवर्क लिमिटेड' नेशनल ऑप्टिकल फाइबल नेटवर्क जैसी परियोजना को कार्यान्वयित करेगी जो डिजिटल इंडिया कार्यक्रम की देखरेख करेगा। बीबीएऩएल ने यूनाइटेड टेलीकॉम लिमिटेड को 250,000 गाँवों को एफटीटीएच ब्रॉडबैंड आधारित तथा जीपीओएन के द्वारा जोड़ने का आदेश दिया है। यह 2017 तक (अपेक्षित) पूर्ण होने वाली डिजिटल इंडिया परियोजना को सभी आधारभूत सुविधाएं मुहैया कराएगी।


डिजिटल इंडिया भारत सरकार की आश्वासनात्मक योजना है। कई कम्पनियों ने इस योजना में अपनी दिलचस्पी दिखायी है। यह भी माना जा रहा है कि ई-कॉमर्स डिजिटल इंडिया प्रोजेक्ट को सुगम बनाने में मदद करेगा। जबकि, इसे कार्यान्वयित करने में कई चुनौतियाँ और कानूनी बाधाएं भी आ सकती हैं। कुछ लोगों का यह भी मानना है कि देश में डिजिटल इंडिया सफल तबतक नहीं हो सकता जबतक कि आवश्यक बीसीबी ई-गवर्नेंस को लागू न किया जाए तथा एकमात्र राष्ट्रीय ई-शासन योजना (National e-Governance Plan) का अपूर्ण क्रियान्वयन भी इस योजना को प्रभावित कर सकता है। निजता सुरक्षा, डाटा सुरक्षा, साइबर कानून, टेलीग्राफ, ई-शासन तथा ई-कॉमर्स आदि के क्षेत्र में भारत का कमजोर नियंत्रण है। कई कानूनी विशेषज्ञों का यह भी मानना है कि बिना साइबर सुरक्षा के ई-प्रशासन और डिजिटल इंडिया व्यर्थ है। भारत ने साइबर सुरक्षा चलन ने भारतीय साइबर स्पेस की कमियों को उजागर किया है। यहाँ तक कि अबतक राष्ट्रीय साइबर सुरक्षा योजना 2013 अभी तक क्रियानवयित नहीं हो पायी है। इन सभी वर्तमान परिस्थियों में महत्वपूर्ण आधारभूत सुरक्षा का प्रबंधन करना भारत सरकार के लिए कठिन कार्य होगा। तथा इस प्रोजेक्ट में उचित ई-कचरा प्रबंधन के प्रावधान की भी कमी है।


डिजिटल इंडिया की निगरानी 
संपादित करें
1. प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में बनी कमेटी


2. वित्त मंत्री, आईटी मंत्री, मानव संसाधन मंत्री, शहरी विकास मंत्री और स्वास्थ्य मंत्री होंगे सदस्य


3. प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव, कैबिनेट सचिव, व्यय, योजना, टेलीकॉम और कार्मिक सचिव विशेष आमंत्रित


4. सूचना सचिव कमेटी के संयोजक


डिजिटल इंडिया पर खर्च 
संपादित करें
1- मौजूदा योजनाओं में एक लाख करोड़


2- नई योजनाओं और गतिविधियों में 13 हजार करोड़


3- 2019 तक डिजिटल इंडिया का असर


4- 2.5 लाख गांवों में ब्रॉडबैंड और फोन की सुविधा


5- 2020 तक नेट जीरो आयात


6- 4 लाख पब्लिक इंटरनेट प्वाइंट


7- 2.4 लाख स्कूलों, विश्वविद्यालयों में वाई-फाई


8- आमलोगों के लिए वाई-फाई हॉट स्पॉट


9- 1.7 करोड़ लोगों को आईटी, टेलीकॉम और इलेक्ट्रॉनिक में ट्रेनिंग और रोजगार


10- 1.7 करोड़ लोगों को सीधे रोजगार


11- 8.5 करोड़ लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार


12- सभी सरकारों में इ-शासन


ओम्कारेश्वर ज्योतिर्लिंग का प्रादुर्भाव

ओंकारेश्वर प्रमेश्वर लिंग के प्रादुर्भाव
ऋषियों ने कहा, महाभाग सूतजी,आपने अपने भक्तों की रक्षा करने वाले महाकाल नामक शिवलिंग की बड़ी अद्भुत कथा सुनाइ। अब कृपा करके चौथे ज्योतिर्लिंग का परिचय दीजिए ।ओमकार तीर्थ में सर्व पापहारी परमेश्वर का जो ज्योतिर्लिंग है। उसके अभीभाव की कथा सुनाइए। भारत में परमेश्‍वर ज्योतिर्लिंग जिस प्रकार प्रकट हुआ वह बताता हूं ।प्रेम से सुनो ,एक समय की बात है भगवान नारद मुनि विध्‍यं नाम शिव के समीप जा बड़ी भक्ति के साथ उनकी सेवा करने लगे कुछ काल के बाद में मुनि शैलेश वहां से गिरिराज विध्‍ंय पर आए और विंध्य ने वहां बड़े आदर के साथ उनका पूजन किया। मेरे यहां सब कुछ है कभी किसी बात की कमी नहीं होती है। इस भाव को मन में लेकर विंध्याचल नारद जी के सामने खड़े हो गए। उसकी वह अभिमान भरी बात सुनकर अहंकार नाशक नारद मुनि लंबी सांस खींचकर चुपचाप खड़े रह गए ।यह देख विंध्या पर्वत ने पूछा आपने मेरे यहां कौन सी कमी देखी है? आपके इस तरह लंबी सांस खींचने का क्या कारण है? नारद जी ने कहा, भैया तुम्हारे यहां सब कुछ है फिर भी मेरु पर्वत तुमसे बहुत ऊंचा है। उसके विभाग देवताओं के लोको में भी पहुंचा हुआ है। किंतु तुम्हारा भाग वहां कभी नहीं पहुंच सका। ऐसा कहा, वे जिस तरह आए थे उसी तरह चल दिए। परंतु मेरे जीवन को धिक्कार है, ऐसा सोचता हुआ मन ही मन। अच्छा अब मैं भगवान की अराधना करता हूँ ।भगवान शंकर की शरण में गया। वहां साक्षात ओंकार की स्थिति है ।वहां पर उसने शिव की मूर्ति बनाई और 6 माह तक निरंतर संधू की आराधना करके शिव के ध्यान में तत्पर हो गए ।अपनी तपस्या के स्थान में हिला तक नहीं विंध्याचल पर्वत। विंध्याचल को सदृस योगी दुर्लभ दिए है ।मनोवांछित वर मांगो मैं भक्तों को देने वाला हूं। आप सदा ही भक्तों से प्रशन्‍न है,यदि आप मुझ पर प्रसन्न हैं तो मुझे वर प्रदान कीजिए। जो आप अपने कार्य को सिद्ध करने वाले हैं, भगवान शंभू ने उत्तर दिया और कहा पर्वतराज तुम जैसा चाहो वैसा करो। इसी समय तथा निर्मल चित्‍त वाले ऋषि वहां आए और शंकर जी की पूजा करके बोले आप यहां निवास करे। और लोगों को सुख देने के लिए उन्होंने वैसा ही किया। वहां जो एक ही लिंग था वह दो भागो में विभक्त हो गया। वह ओमकार नाम से विख्यात हुए और पार्थिव मूर्ति में जो शिव ज्योति प्रतिष्ठित हुई उसकी परमेश्वर को ही अमलेश्वर भी कहते है। इस प्रकार ओंकार और परमेश्वर यह दोनों शिवलिंग भक्तों को फल प्रदान करने वाले हैं। उस समय देवताओं और ऋषि यों ने उन दोनों की पूजा की और भगवान वृषध्‍वज को संतुष्ट कर के अनेक वर प्राप्त कीए। तत्पश्चात देवता अपने-अपने स्थान को चले गए और विंध्याचल भी अधिक प्रसन्नता का अनुभव करने लगे। उसने अपने अभीष्ट कार्य को सिद्ध किया और मानसिक पीडा को त्याग दिया। जो मनुष्य इस प्रकार भगवान शंकर का पूजन करता है वह माता के गर्भ में फिर नहीं आता और अपने अभीष्ट फल को प्राप्त कर लेता है। इसमें किसी प्रकार का अंदेशा नहीं है। सूतजी कहते हैं। ओमकार में ज्योतिर्लिंग प्रकट हुआ और उसकी आराधना से जो फल मिलता है। वह सब यहां तुम्हें बता दिया है। इसके बाद में उत्तम केदारनाथ ज्योतिर्लिंग का वर्णन करूंगा।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण
2019-8-9 • RNI.No.UPHIN/2014/57254
1.अंक-08(साल-01)
2.रविवार,11अगस्‍त 2019
3.शक-1941,श्रावन शुक्‍लपक्ष दशवीं,विक्रमी संवत 2076,09 जिल्‍हिज हिजरी 1440 ।
4. सूर्योदय प्रातः 5:47,सूर्यास्त 7:07
5.न्‍यूनतम तापमान -29 डी.सै.,अधिकतम-32+ डी.सै., आसमान में बादल छाए रहेंगे, हल्की बरसात की संभावना रहेगी!
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा!
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार लोनी गाजियाबाद 201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी गाजियाबाद 201102
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की

अकांशु उपाध्याय      नई दिल्ली। बिजनेस सॉफ्टवेयर फर्म फ्रेशवर्क्स इंक ने बुधवार को अमेरिकी एक्सचेंज नैसडैक पर शानदार एंट्री की है। अपने शानद...