मंगलवार, 2 जुलाई 2024

स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है 'मोरिंगा' के पत्ते

स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है 'मोरिंगा' के पत्ते 

सरस्वती उपाध्याय 
सेहत के लिए मोरिंगा के पत्ते को चमत्कारिक माना जाता हैं। मोरिंगा के पत्तों के विशेष गुण शरीर में कई सकारात्मक बदलाव हो सकते हैं। मोरिंगा के पत्तों का सेवन स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभकारी माना जाता है।
आइये जानते है कि,मोरिंगा के पत्तों को चबाने से आपके शरीर में कौन-कौन से सकारात्मक बदलाव हो सकते हैं ?

पोषण की भरपाई

मोरिंगा के पत्तों में विटामिन ए, सी, ई, और बी-कॉम्प्लेक्स, कैल्शियम, पोटैशियम, प्रोटीन और फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है। नियमित सेवन से आपके शरीर को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं और आप हेल्दी रहते हैं।

इम्यून सिस्टम को मजबूती

मोरिंगा में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो आपके इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाने में मदद करते हैं। इससे आपका शरीर रोगों से लड़ने में सक्षम होता है।

हार्ट हेल्थ

मोरिंगा के पत्ते ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। इनमें मौजूद पोटैशियम और मैग्नीशियम हार्ट की धड़कन को रेगुलेट रखने में सहायक होते हैं, जिससे हार्ट रिलेटेड डिजीज का खतरा कम होता है।

शुगर लेवल को कंट्रोल करना

मोरिंगा के पत्तों में एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं, जो ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं। इससे डायबिटीज के मरीजों को लाभ मिलता है।

टी-20 क्रिकेट से संन्यास ले सकते हैं बुमराह

टी-20 क्रिकेट से संन्यास ले सकते हैं बुमराह 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। टीम इंडिया के बेहतरीन तेज गेंदबाजों में से एक जसप्रीत बुमराह ने हाल ही में टी-20 वर्ल्ड कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था। इस टूर्नामेंट में जसप्रीत बुमराह ने शानदार गेंदबाजी की और इसी गेंदबाजी की वजह से ही भारतीय टीम टी-20 वर्ल्ड कप 2024 को अपने नाम किया है।
लेकिन अब जसप्रीत बुमराह के बारे में एक ऐसी खबर सुनने को मिल रही है जिसके बाद सभी समर्थक बेहद ही मायूस हो गए हैं। दरअसल बात यह है कि, पिछले कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर यह खबर आ रही है कि, जसप्रीत बुमराह ने टी-20 क्रिकेट से संन्यास लेने का मन बना लिया है।

जसप्रीत बुमराह ले सकते हैं टी-20 से संन्यास !

टीम इंडिया के बेहतरीन तेज गेंदबाजों में से एक जसप्रीत बुमराह के बारे में यह खबर आ रही है कि, ये अब जल्द से जल्द टी-20 क्रिकेट को अलविदा कहने के बारे में विचार सकते हैं। दरअसल बात यह है कि, जसप्रीत बुमराह भारतीय टीम के सबसे प्रमुख हथियार हैं और अगर ऐसे में ये अगर ज्यादा क्रिकेट में भाग लिए। तो फिर चोटिल होने का खतरा लगातार बना रहेगा। इसी वजह से कहा जा रहा है कि, बड़े टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए ये टी-20 क्रिकेट को अलविदा कहने के बारे में विचार कर लिया है।

युवा खिलाड़ियों को मिलेगा मौका

अगर जसप्रीत बुमराह टी-20 क्रिकेट से अपने संन्यास का ऐलान करते हैं, तो फिर उनकी जगह पर मैनेजमेंट युवा खिलाड़ियों को मौका देते हुए दिखाई दे सकती है। जसप्रीत बुमराह जब टी-20 क्रिकेट से संन्यास का ऐलान करेंगे तो फिर वो ओडीआई और टेस्ट क्रिकेट में अधिक ध्यान देंगे और इसी वजह से भारतीय क्रिकेट का फायदा होगा। एक्सपर्ट्स की मानें तो वर्कलोड कम होने की वजह से मैनेजमेंट इन्हें आगामी 'चैंपियंस ट्रॉफी 2025' और 'वर्ल्डटेस्ट चैम्पियनशिप 2025' की तैयारियों के लिए भेज सकती है।

कुछ इस प्रकार है जसप्रीत बुमराह का टी-20 करियर

अगर बात करें, टीम इंडिया के बेहतरीन तेज गेंदबाजों में से एक जसप्रीत बुमराह के क्रिकेट करियर की तो इनका क्रिकेट करियर बेहद ही शानदार रहा है। इन्होंने भारतीय टीम के लिए खेले गए 70 मैचों की 69 पारियों में 17.74 की औसत और 6.27 की इकॉनमी रेट से 89 विकेट अपने नाम किए हैं। जसप्रीत बुमराह के इसी आकड़े देखने के बाद इन्हें दुनिया का सबसे खतरनाक गेंदबाज माना जाता है।

यूक्रेनी सैनिकों का बेलारूस सीमा पर जमावड़ा

यूक्रेनी सैनिकों का बेलारूस सीमा पर जमावड़ा 

अखिलेश पांडेय 
मॉस्को। रूस ने कहा है कि बेलारूस की सैन्य रिपोर्ट के अनुसार, यूक्रेनी सैनिकों का उसकी सीमा पर लगातार जमावड़ा हो रहा है, यह चिंता का विषय है। वहीं, यूक्रेन के सीमा गार्ड की ओर से इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया गया है। बेलारूस 28 माह से चल रहे युद्ध में रूस का निकट सहयोगी है। वह रूस का लगातार समर्थन कर रहा है।

बेलारूस की सैन्य रिपोर्ट चिंता बढ़ाने वाली

क्रेमलिन ने सोमवार को कहा कि बेलारूस की सैन्य रिपोर्ट चिंता बढ़ाने वाली है। यह पहली बार नहीं है, जब बेलारूस यूक्रेनी सैनिकों को लेकर खतरा जता रहा है। रूस ने कहा कि यह रिपोर्ट केवल बेलारूस के लिए नहीं बल्कि रूस के लिए भी चिंता का विषय है। बेलारूस हमारा निकट सहयोगी और साझेदार है।
क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने कहा कि रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और बेलारूस के नेता अलेक्जेंडर लुकाशेंको दोनों कजाखस्तान में 3-4 जुलाई को होने वाले शंघाई सहयोग संगठन सम्मेलन में भाग लेंगे। उस दौरान दोनों नेता यदि जरूरी हुआ तो इस पर चर्चा करेंगे।

यूक्रेन की गोलाबारी में एक नागिरक की मौत

उधर, रूस के बेलगोरोद रीजन के गवर्नर ने सोमवार को दावा किया कि यूक्रेन की गोलाबारी में एक नागिरक की मौत हो गई। बेलेगोरोद यूक्रेन की सीमा खार्कीव से सटा है। रूस ने कहा कि फरवरी, 2022 में शुरू रूसी सैन्य अभियान के बाद से यूक्रेन की ओर से यहां लगातार हमले किए जा रहे हैं।

एक दिन में जंग का समाधान निकाल सकते हैं

एक दिन में जंग का समाधान निकाल सकते हैं 

अखिलेश पांडेय 
वाशिंगटन डीसी। रूस और यूक्रेन के बीच जंग जारी है। भले ही जंग रूस और यूक्रेन के बीच चल रही हो। लेकिन, अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में यह बड़ मुद्दा बन गया है। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बार-बार कहा है, कि अगर वह दोबारा राष्ट्रपति चुने जाते हैं तो एक दिन में रूस और यूक्रेन के बीच जंग का समाधान निकाल सकते हैं। भले ही ट्रंप कुछ भी कह रहे हों लेकिन संयुक्त राष्ट्र में रूस के राजदूत का कहना है कि ट्रंप ऐसा नहीं कर सकते हैं। 

एक दिन में हल नहीं हो सकता संकट

रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद के संभावित उम्मीदवार के दावे के बारे में पूछे जाने पर रूसी राजदूत वैसिली नेबेंजिया ने पत्रकारों से कहा, ‘‘यूक्रेन का संकट एक दिन में हल नहीं किया जा सकता है।’’ नेबेंजिया ने कहा कि यह जंग अप्रैल 2022 में खत्म हो सकती थी जब इस्तांबुल में रूस और यूक्रेन एक समझौते के ‘‘बेहद करीब’’ पहुंच गए थे। उन्होंने यूक्रेन का साथ दे रहे पश्चिमी देशों पर अप्रैल 2022 में होने वाले शांति समझौते को अवरुद्ध करने का दोष मढ़ा।

नहीं दिया गया जवाब

रूसी राजदूत ने कहा कि अब जेलेंस्की ‘‘अपने ऐसे तथाकथित शांति समझौते पर बात कर रहे हैं, जो जाहिर तौर पर कोई शांति समझौता नहीं, बल्कि एक मजाक है।’’ ट्रंप के प्रचार अभियान दल ने नेबेंजिया की टिप्पणियों पर अभी कोई जवाब नहीं दिया है। रूसी राजदूत वैसिली नेबेंजिया ने जिस तरह की बात कही है उससे अंदाजा साफ लगाया जा सकता है कि यूक्रेन में स्थिति को लेकर रूस किस तरह से गंभीर है। 

बार-बार यह दावा करते रहे हैं ट्रंप

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ने मई 2023 में सीएनएन टाउन हॉल में कहा था, ‘‘रूसी और यूक्रेनी नागरिक मर रहे हैं। मैं उन्हें मरने से रोकना चाहता हूं और मैं 24 घंटे में यह कर सकता हूं।’’ उन्होंने कहा कि उनके यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात करने के बाद यह होगा। वह अपने प्रचार अभियान में बार-बार यह दावा करते रहे हैं। ट्रंप ने पिछले सप्ताह भी राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ बहस के दौरान दावा किया था, ‘‘अगर हमारे पास ऐसा राष्ट्रपति होता जिसका पुतिन सम्मान करते हैं, तो वह कभी यूक्रेन पर हमला नहीं करते।’’

'पीएम' मोदी ने लोकसभा को संबोधित किया

'पीएम' मोदी ने लोकसभा को संबोधित किया 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को लोकसभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस सांसद और लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी पर इशारों-इशारों में तंज कसा। पीएम मोदी के तंज को सुनकर एनडीए सांसदों के साथ ही सदन में मौजूद विपक्षी दलों के सांसद भी हंसने लगे।

पीएम मोदी ने क्या कहा ?

प्रधानमंत्री मोदी ने लोकसभा को संबोधित करते हुए कहा कि साल 1984 में हुए चुनावों को याद कीजिए। उसके बाद से अब तक लोकसभा के 10 चुनाव हो चुके हैं। तब से लेकर अब तक कांग्रेस पार्टी 250 सांसदों के आंकड़े को छू नहीं पाई है। इस बार तो ये 99 के चक्कर में फंस गए हैं। मुझे एक किस्सा याद आ रहा है। एक बच्चा एग्जाम में मिले 99% मार्क्स लेकर घूम रहा था। लोग उसे वाहवाही दे रहे थे। बाद में टीचर ने कहा कि ये बच्चा 100 में से 99 नंबर नहीं लाया है, बल्कि 543 में से 99 लाया है।

परजीवी पार्टी बनी कांग्रेस

पीएम मोदी ने आगे कहा कि मुझे नहीं पता कि कांग्रेस के साथी दलों ने लोकसभा चुनाव 2024 का विश्लेषण किया है या नहीं। लेकिन उनके लिए ये काफी महत्वपूर्ण है। 2024 से कांग्रेस पार्टी एक परजीवी पार्टी के रूप में जानी जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि परजीवी उसे कहते हैं, जो जिस शरीर के साथ रहता है, उसी को खाता रहता है। कांग्रेस पार्टी जिसके साथ रहती है, उसी के वोटों को खा जाती है।

25 वर्षों में सबसे उच्च स्तर पर 'भारत' का भंडार

25 वर्षों में सबसे उच्च स्तर पर 'भारत' का भंडार 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। केंद्र में जब से बीजेपी की सरकार आई हैं, तब से भारत की परमाणु नीति में भी बदलाव देखने को मिल रहा हैं। एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत का परमाणु भंडार 25 वर्षों में सबसे उच्च स्तर पर हैं।
भारत के पास एशिया में चीन के बाद सबसे ज्यादा परमाणु हथियार हैं।
खबर के अनुसार 25 वर्षों में पहली बार भारतीय परमाणु हथियारों का भंडार पाकिस्तान से ज्यादा हुआ हैं। भारत के पास वर्तमान में 172 परमाणु हथियार हैं। वहीं, इन परमाणु हथियारों को ले जानें के लिए भारत के पास लंबी दूरी की मिसाइलें भी मौजूद हैं। 
बता दें की हाल ही में भारत ने Agni-V मिसाइल का परीक्षण किया था। जिससे पाकिस्तान के साथ-साथ चीन में भी डरा का महौल बना हुआ हैं। क्योंकि, युद्ध की स्थिति में भारत इस मिसाइल से चीन और पाकिस्तान के किसी भी शहर को टारगेट कर सकता हैं। 
दरअसल, अग्नि-5 टेस्ट के बाद चीन और पाकिस्तान ने ये चिंता जताई थी की मिसाइल परीक्षण के जरिए भारत अपने परमाणु हथियारों के जखीरे को बढ़ा रहा है। वहीं, कई जानकार बताते हैं की भारत बहुत जल्द हाइपरसोनिक मिसाइल का भी टेस्ट करेगा।

जीडीपी के चार ट्रिलियन डॉलर होने का अनुमान

जीडीपी के चार ट्रिलियन डॉलर होने का अनुमान 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की आर्थिक सलाहकार परिषद के सदस्य संजीव सान्याल ने वैश्विक विकास दर को पीछे छोड़ते हुए इस साल जीडीपी के चार ट्रिलियन डॉलर होने का अनुमान जताया है।
सान्याल ने कहा, 'इस साल भारत की जीडीपी चार ट्रिलियन डालर तक पहुंच जाएगी और इस तरह हम जापान की बराबरी पर जाएंगे। हम दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के रूप में आगे बढ़ना जारी रखेंगे। पिछले साल हमारी विकास दर 8.2 प्रतिशत रही और इस साल हमें सात प्रतिशत से अधिक की विकास दर हासिल करने की उम्मीद है।'

एक ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने में लगे 17 साल

कैंब्रिज इंडिया कांफ्रेंस के दौरान सान्याल ने कहा कि उदारीकरण के बाद हमें एक ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनने में 16-17 साल लग गए। दो ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचने में सात साल लग गए। 2021-22 में हम तीन ट्रिलियन डॉलर की आर्थिकी वाले देश बने। इस काम में हमें पांच साल लगने चाहिए, लेकिन कोरोना महामारी के चलते दो साल बर्बाद हो गए। उन्होंने कहा कि अब हम चार ट्रिलियन का आंकड़ा केवल तीन साल में पार कर लेंगे। अगर कोई बड़ा झटका नहीं लगता है तो पांच ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने में सिर्फ दो साल लगेंगे।

नौकरशाही में सुधार, वैश्विक व्यापार बढ़ाने की जरूरत

चर्चा के दौरान सान्याल ने व्यापक आर्थिक स्थिरता बनाए रखने, बैंकों का एनपीए कम होने, नौकरशाही में सुधार, वैश्विक व्यापार से जुड़ाव को बढ़ाने और नवीकरणीय और हरित प्रौद्योगिकियों के माध्यम से स्थायी ऊर्जा में निवेश करने के महत्व को रेखांकित किया। सान्याल ने भारत की कानूनी प्रणाली को आधुनिक बनाने का भी आह्वान किया। सान्याल ने निष्पक्ष परामर्श के बिना पर्यावरण, सामाजिक और शासन संबंधी मानक लागू करने की भी आलोचना की।

तनाव को कम करने हेतु बैठक की: चीन-फिलीपींस

तनाव को कम करने हेतु बैठक की: चीन-फिलीपींस

अखिलेश पांडेय 
बीजिंग/मनीला। चीन और फिलीपींस ने विवादित दक्षिण चीन सागर में अपने सबसे खराब टकराव के बाद बढ़ते तनाव को कम करने के लिए मंगलवार को एक महत्वपूर्ण बैठक की। जिससे व्यापक संघर्ष की आशंका पैदा हो गई, जिसमें मनीला के सहयोगी संयुक्त राज्य अमेरिका भी शामिल हो सकता है।
17 जून को सेकंड थॉमस शोल में हुई अराजक झड़प की पुनरावृत्ति को रोकने के लिए किसी भी बड़े समझौते का कोई उल्लेख नहीं किया गया, जिसमें फिलिपिनो नौसेना के कर्मियों को चोटें आईं और दो सैन्य नौकाओं को नुकसान पहुंचा। उत्तर-पश्चिमी फिलीपींस का शोल विवादित जल में सबसे खतरनाक फ्लैशपॉइंट के रूप में उभरा है, जिस पर चीन लगभग पूरी तरह से दावा करता है। चाइनीज नेवी और नागरिक जहाजों ने एक ज़मीनी जहाज पर सवार फिलीपींस के नौसैनिकों को घेर लिया, उनकी फिर से आपूर्ति को रोकने की कोशिश की और फिलीपींस से वापस जाने की मांग की। मंगलवार देर रात मनीला में विदेश मामलों के विभाग ने एक बयान में कहा कि चीनी और फिलीपींस के प्रतिनिधिमंडलों ने "अपने-अपने पदों के प्रति पूर्वाग्रह के बिना तनाव को कम करने की अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि की।" "समुद्र में स्थिति को संभालने के लिए उपाय विकसित करने में पर्याप्त प्रगति हुई है, लेकिन महत्वपूर्ण मतभेद बने हुए हैं।" फिलीपीन पक्ष के अनुसार, फिलीपीन विदेश अवर सचिव थेरेसा लाज़ारो ने अपने चीनी समकक्ष, उप विदेश मंत्री चेन शियाओडोंग से कहा कि "फिलीपींस अपने हितों की रक्षा करने और दक्षिण चीन सागर में अपनी संप्रभुता, संप्रभु अधिकारों और अधिकार क्षेत्र को बनाए रखने में अथक प्रयास करेगा।
समुद्र में आपात स्थितियों के दौरान संचार में सुधार के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए और दोनों पक्षों ने अपने तट रक्षकों के बीच संबंधों को बढ़ाने पर बातचीत जारी रखने पर सहमति व्यक्त की, लेकिन कोई विवरण नहीं दिया गया। समुद्री वैज्ञानिक सहयोग को बेहतर बनाने के लिए वैज्ञानिकों और शिक्षाविदों के बीच एक अकादमिक मंच आयोजित करने की एक और विश्वास-निर्माण योजना भी थी। बैठक से पहले, फिलीपींस ने औपचारिक रूप से चीन के प्रतिनिधिमंडल से कम से कम सात राइफलें वापस करने के लिए कहने की योजना बनाई, जिन्हें चीनी तट रक्षक कर्मियों ने 17 जून को तट पर आमने-सामने की झड़प के दौरान जब्त किया था और नुकसान की भरपाई करने के लिए कहा, एक फिलीपीन अधिकारी ने संवेदनशील मामले पर सार्वजनिक रूप से चर्चा करने के अधिकार की कमी के कारण नाम न बताने की शर्त पर एसोसिएटेड प्रेस को बताया।
एशियाई पड़ोसी देशों ने अपने संघर्षों को शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने के लिए 2017 में पहली बार आयोजित की गई द्विसदनीय परामर्शदात्री तंत्र बैठकों को आयोजित करने पर सहमति व्यक्त की। लेकिन उच्च-समुद्री टकराव विशेष रूप से राष्ट्रपति फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर के अधीन जारी रहे हैं, जिन्होंने अपने पूर्ववर्ती के विपरीत, चीन के प्रतिकार के रूप में संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ घनिष्ठ सैन्य और रक्षा संबंधों को बढ़ावा दिया है।फिलीपींस और चीन के अलावा, वियतनाम, मलेशिया, ताइवान और ब्रुनेई भी रणनीतिक समुद्र पर अतिव्यापी दावे करते हैं, जिसमें समृद्ध मछली पकड़ने के क्षेत्र हैं और संभावित रूप से गैस के अधिक भंडार हैं जो अब तक कुछ तटीय राज्यों द्वारा सीमांत क्षेत्रों में पाए गए हैं। चीनी सेनाओं और वियतनाम, मलेशिया और इंडोनेशिया के बीच अतीत में छिटपुट टकराव हुए हैं, लेकिन दक्षिण पूर्व एशियाई देशों ने अपने पर्याप्त आर्थिक संबंधों को अस्थिर करने के डर से चीन का आक्रामक रूप से सामना करने का विरोध किया है। मार्कोस के नेतृत्व में, जिन्होंने 2022 में पदभार संभाला, फिलीपींस ने वीडियो और तस्वीरें सार्वजनिक करके और पत्रकारों को कोस्ट गार्ड पेट्रोल जहाजों में शामिल होने की अनुमति देकर आक्रामक चीनी कार्रवाइयों को उजागर करने के लिए एक अभियान शुरू किया, जो बीजिंग की सेनाओं के साथ खतरनाक टकरावों में शामिल रहे हैं। विवादित जल पर अमेरिका का कोई दावा नहीं है, लेकिन उसने गश्त के लिए युद्धपोत और लड़ाकू जेट तैनात किए हैं, जिसका उद्देश्य नेविगेशन और ओवरफ्लाइट की स्वतंत्रता सुनिश्चित करना और फिलीपींस और जापान जैसे सहयोगियों को आश्वस्त करना है, जिनका पूर्वी चीन सागर में द्वीपों को लेकर चीन के साथ क्षेत्रीय विवाद भी है। पिछले महीने सेकंड थॉमस शोल में टकराव के बाद, जहां चीनी सेना को चाकू, कुल्हाड़ी और तात्कालिक भाले लहराते हुए वीडियो में पकड़ा गया था, वाशिंगटन ने चेतावनी दी कि अगर दक्षिण चीन सागर सहित तट रक्षक सहित फिलिपिनो सेना सशस्त्र हमले की चपेट में आती है, तो 1951 की पारस्परिक रक्षा संधि के तहत फिलीपींस की रक्षा करने में उसकी मदद करना उसका दायित्व है। मार्कोस ने कहा कि चीनी कार्रवाइयों से संधि सक्रिय नहीं होगी क्योंकि कोई गोली नहीं चलाई गई।

डीएम-एसपी ने 'शांति समिति' की बैठक की

डीएम-एसपी ने 'शांति समिति' की बैठक की 

मोहर्रम पर्व एवं कांवड़ यात्रा को सौहार्दपूर्ण सकुशल सम्पन्न कराये जाने के लिए डीएम-एसपी ने की शांति समिति की बैठक

कौशाम्बी। जिलाधिकारी मधुसूदन हुल्गी एवं पुलिस अधीक्षक बृजेश कुमार श्रीवास्तव द्वारा उदयन सभागार में मोहर्रम पर्व एवं कांवड़ यात्रा को सौहार्दपूर्ण सकुशल सम्पन्न कराये जाने के लिए सम्बन्धित अधिकारियों एवं सम्भ्रान्त नागरिकों के साथ शांति समिति की बैठक की गई। 
बैठक में जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी उप जिलाधिकारियों, क्षेत्राधिकारियों एवं थाना प्रभारियों से मोहर्रम पर्व को शान्तिपूर्ण व सकुशल सम्पन्न कराये जाने के लिए अब तक गई कार्यवाही यथा-थानावार पीस कमेटी की बैठक, जुलूस मार्ग का निरीक्षण एवं ड्यूटी लगाये जाने आदि की जानकारी प्राप्त की गई। उन्होंने सम्भ्रान्त नागरिकों से समस्याओं/सुझावों को प्राप्त करते हुए कहा कि मोहर्रम पर्व एवं कॉवड़ यात्रा को आपसी सौहार्द एवं भाईचारा के साथ मनाया जाय। सम्भ्रान्त नागरिकों ने कहा कि त्यौहार को शान्तिपूर्ण एवं आपसी सौहार्द के साथ मनाया जायेंगा तथा कोई भी अप्रिय घटना नहीं होने दी जाएगी। 
जिलाधिकारी ने मोहर्रम पर्व एवं कांवड़ यात्रा के दृष्टिगत सभी उपजिलाधिकारियों एवं क्षेत्राधिकारियों को संवेदनशील क्षेत्रों का निरन्तर भ्रमण करते रहने के निर्देश देते हुए कहा कि कहीं पर भी कोई समस्या आती है तो उसका तत्काल समाधान किया जाएं। उन्होंने सभी अधिशासी अधिकारियों एवं जिला पंचायतराज अधिकारी को ताजिया जूलूस मार्गों की साफ-सफाई एवं पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिशासी अभियंता विद्युत को बैठक में विद्युत से सम्बन्धित प्राप्त शिकायतों को निस्तारित करने के निर्देश दिए। उन्हांने मुख्य चिकित्साधिकारी को चिकित्सकों की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि त्यौहार को आपस में मिलकर सौहार्दपूर्ण व शान्तिपूर्ण मनाने से त्यौहार का महत्व और बढ़ जाता है।
पुलिस अधीक्षक ने सम्भ्रान्त नागरिकों से कहा कि त्यौहार को आपसी सौहार्द के साथ मनाया जाएं। उन्होंने क्षेत्राधिकारियों एवं थाना प्रभारियों से कहा कि ताजिया जूलूस मार्गों का निरीक्षण कर आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित कर लिया जाएं तथा संभ्रान्त नागरिकों के निरन्तर संपर्क में रहें। पुलिस कर्मियों की ड्यूटी लगा दिया जाएं। कांवड़ यात्रा के दृष्टिगत आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित कर लिया जाएं। उन्होंने संभ्रान्त नागरिकों से कहा कि अफवाहों पर ध्यान न दिया जाएं। सोशल मीडिया पर निगरानी रखी जा रहीं हैं। किसी भी प्रकार की समस्या आती है, तो तत्काल अधिकारियों को अवगत कराया जाएं। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी अरूण कुमार गोंड एवं प्रबुद्ध सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार वर्मा, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. सुष्पेन्द्र कुमार, सभी उप जिलाधिकारीगण एवं क्षेत्राधिकारीगण सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण एवं सम्भ्रान्त नागरिकगण उपस्थित रहें।
सुशील केसरवानी

कैबिनेट बैठक ने वेतन समिति पर मुहर लगाई

कैबिनेट बैठक ने वेतन समिति पर मुहर लगाई 

संदीप मिश्र 
लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में मंगलवार को हुई कैबिनेट बैठक ने वेतन समिति पर मुख्य सचिव की संस्तुति पर मुहर लगा दी है। इससे 656 सुरक्षा गार्ड और 2130 शिक्षकों का मानदेय व भत्ता बढ़ना तय हो गया है। जो सुरक्षा गार्ड मुख्यमंत्री और राज्यपाल के यहां तैनात हैं उन्हें अब 12500 की जगह 22 हजार रुपये प्रोत्साहन मिलेगा।
वहीं, व्यावसायिक शिक्षा में विशेषज्ञों को अब 500 की जगह 750 रुपये बढ़ाकर दिया जाएगा। उन्हें 12 हजार की जगह अधिकतम 15 हजार मिलेंगे। हाईस्कूल में 400 की जगह 500 किया गया है। वहीं, तदर्थ शिक्षकों को भी राहत दी गई है। अब उनका समायोजन मानदेय पर होगा।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-256, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2014/57254

2. बुधवार, जुलाई 03, 2024

3. शक-1945, आषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि-द्वादशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌। 

4. सूर्योदय प्रातः 06:03, सूर्यास्त: 06:43।

5. न्‍यूनतम तापमान- 37 डी.सै., अधिकतम- 23+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

6 जुलाई से होगी भारत-जिम्बाब्वे मैच की शुरुआत

6 जुलाई से होगी भारत-जिम्बाब्वे मैच की शुरुआत 

अखिलेश पांडेय 
हरारे। टी-20 वर्ल्ड कप 2024 का समापन हो चुका है और भारतीय टीम ने इसका समापन चैंपियन बनने के साथ किया। अब टीम इंडिया का अगला पड़ाव जिम्बाब्वे दौरा है, जहां पर भारत और जिम्बाब्वे के बीच 5 मैचों की टी-20 सीरीज खेली जाएगी।
जिम्बाब्वे दौरे के लिए टीम इंडिया की ऐलान पहले ही किया जा चुका है और टीम की कप्तानी शुभमन गिल के हाथों में हैं।
जिम्बाब्वे के खिलाफ इस टी-20आई सीरीज में कई भारतीय सीनियर खिलाड़ी नहीं खेलेंगे। रोहित शर्मा, विराट कोहली, रविंद्र जडेजा पहले ही टी-20आई से संन्यास ले चुके हैं। अब भारत-जिम्बाब्वे के बीच होने वाले मुकाबले भारत के समय के मुताबिक, कितने बजे शुरू होंगे आइए आपको इसकी जानकारी देते हैं।

भारतीय समय के मुताबिक 4.30 बजे शुरू होगा मैच

भारत और जिम्बाब्वे के बीच पांच मैचों की टी20आई सीरीज की शुरुआत 6 जुलाई से होगी। जबकि, आखिरी मैच 14 जुलाई को खेला जाएगा। वहीं दूसरा मैच 7 जुलाई तो वहीं, तीसरा मैच 10 जुलाई को होगा। जबकि, तीसरा मैच दोनों देशों के बीच 13 जुलाई को खेला जाएगा। दोनों देशों के बीच सभी मुकाबले हरारे स्पोर्ट्स क्लब, हरारे में खेला जाएगा।
भारतीय समय के मुताबिक सभी मैच शाम 4.30 बजे से शुरू होंगे जबकि ये मैच जिम्बाब्वे के समय के मुताबिक दोपहर एक बजे से खेला जाएगा। भारत के खिलाफ होने वाले टी-20आई सीरीज के लिए जिम्बाब्वे ने भी अपनी टीम का ऐलान कर दिया है और ये टीम सिकंदर रजा की कप्तानी में भारत के खिलाफ मैदान पर उतरेगी।
भारत बनाम जिम्बाब्वे टी-20आई सीरीज का कार्यक्रम

पहला टी-20आई - शनिवार, 6 जुलाई, शाम 4.30 बजे (भारतीय समय के मुताबिक)

दूसरा टी-20आई - रविवार, 7 जुलाई, शाम 4.30 बजे (भारतीय समय के मुताबिक)

तीसरा टी-20आई - बुधवार, 10 जुलाई, शाम 4.30 बजे (भारतीय समय के मुताबिक)

चौथा टी-20आई - शनिवार, 13 जुलाई, शाम 4.30 बजे (भारतीय समय के मुताबिक)

पांचवां टी-20आई - रविवार, 14 जुलाई, शाम 4.30 बजे (भारतीय समय के मुताबिक)।

भारत की टीम

शुभमन गिल (कप्तान), यशस्वी जायसवाल, ऋतुराज गायकवाड़, अभिषेक शर्मा, रिंकू सिंह, संजू सैमसन (विकेट कीपर), ध्रुव जुरेल (विकेट कीपर), शिवम दुबे, रियान पराग, वाशिंगटन सुंदर, रवि बिश्नोई, आवेश खान, खलील अहमद, मुकेश कुमार, तुषार देशपांडे।

जिम्बाब्वे की टीम

सिकंदर रजा (कप्तान), फराज अकरम, ब्रायन बेनेट, जोनाथन कैंपबेल, तेंदई चतारा, ल्यूक जोंगवे, इनोसेंट कैया, क्लाइव मदंडे, वेस्ली मधेवेरे, तदीवानाशे मारुमानी, वेलिंगटन मसाकाद्जा, ब्रैंडन मावुता, ब्लेसिंग मुजरबानी, डायोन मायर्स, एंटम नकवी, रिचर्ड नगारवा, मिल्टन शुम्बा।

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश का 51वां जन्मदिन मनाया

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश का 51वां जन्मदिन मनाया 

बृजेश केसरवानी 
प्रयागराज। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष, पूर्व मुख्यमंत्री, सांसद अखिलेश यादव का 51वां जन्मदिन जिले भर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित कर मनाया गया।
पार्टी के जिला कार्यालय जार्ज टाउन में सुबह 11 बजे जिलाध्यक्ष गंगापार अनिल यादव, यमुनापार पप्पूलाल निषाद के संयुक्त तत्वावधान में केक काट कर एक दूसरे को खिलाया गया और अपने नेता के दीर्घायु होने की कामना की गई।नेता द्वय द्वारा पीपल का पौधा रोपकर पीडीए पौध रोपण अभियान क़ा शुभारम्भ भी किया गया। इस मौके पर नेता द्वयने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को जिस तरह जनता ने बड़ी जिम्मेदारी दी है हमलोग उस जिम्मेदारी को पूरा करने के लिये बड़ी लगन और निष्ठां के साथ संगठन को मजबूत करते हुए जन जन तक पार्टी का सन्देश पहुंचाने का काम करेंगे।
इस मौके पर सपा के प्रदेश सचिव नरेन्द्र सिंहने पार्टी कार्यालय में सहभोज एवं संगम तट पर साधु संतों को भोजन कराकर अपने नेता के यशस्वी होने क़ा आशीर्वाद मांगा। कहा कि अखिलेश यादव ही गरीबों, किसानों, मजलूमों एवं मजबूरों के हितैशी है और सही मायने में भारत के हितैषी हैं।
सपा लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिषेक यादव की अगुवाई में परेड ग्राउंड में पार्टी के झंडो से चित्र उभारा गया, जो अनूठा रहा। युवा नेता आदिल हमजा द्वारा फाफामऊ विधानसभा के मंसूराबाद में कार्यक्रम कर 51 जरुरत मंदों को साईकिल वितरित की गई।पूर्व प्रमुख संदीप यादव के नेतृत्व में जैतवार डीह डिघी में 51 पौध लगाए गए। जिला उपाध्यक्ष कुलदीप यादव के नेतृत्व में पड़िला महादेव मंदिर में यज्ञ हवन किया गया। शहर के मुंडेरा बाजार में युवा नेता मयंक यादव जोंटी द्वारा भंडारा आयोजित किया गया। बलुआघाट के बरादारी में छात्र सभा की ओर से रक्त दान शिविर आयोजित किया गया। सपा अधिवक्ता सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रिपु सूदन यादव के नेतृत्व में हाईकोर्ट के पास स्थित डॉ अम्बेडकर जी की प्रतिमा के सामने केक काटा गया एवं संविधान की उद्देशिका क़ा पुनरपाठ कर संविधान और लोकतंत्र की रक्षा क़ा संकल्प लिया गया। आज के दिन जिले की सभी विधानसभाओं, टाउन एरिया, ब्लाक कार्यालय सहित प्रमुख बाजारों में सपा मुखिया अखिलेश यादव क़ा जन्मदिन मनाया गया।
इस मौके पर अनिल यादव, पप्पूलाल निषाद, डॉ मानसिंह यादव,श्रीमती विजमा यादव, श्रीमती गीता शास्त्री,हाजी परवेज अहमद,बासुदेव यादव,मुजतबा सिद्दीकी, नरेन्द्र सिंह, पंधारी यादव,डॉ राजेश यादव, दीनानाथ यादव, मंसूर आलम, शांति प्रकाश पटेल,राम अवध पाल,राम देव निडर, वजीर खां,मो.सलमान,दान बहादुर मधुर,नाटे चौधरी, सचिन यादव,हिमांशु सिंह, राम नीरजन विश्वकर्मा, सचिन श्रीवास्तव,मो सलमान, महेन्द्र निषाद,कृष्ण मूर्ति सिंह, नेम यादव, हेमंत टुन्नू, डॉ प्रेम चंद्र विश्वकर्मा, कुलदीप यादव, हरिश्चंद्र यादव, रविन्द्र यादव,संतोष यादव, सुरेश यादव,योगेश पाल, शैलेन्द्र पाल,सत्यभामा मिश्रा, निशा शुक्ला, गीता भारतीय, पूजा मिश्रा,डॉ आकाश यादव, गणेश यादव, राम अचल, आशीष पाल, अभयंद्र भारतीय, राजूपासी, सुधीर निषाद, निरेन्द्र यादव एडवोकेट, गोपाल श्रीवास्तव एडवोकेट, राकेश यादव एडवोकेट आदि रहे।

उत्तर कोरिया ने दो बैलिस्टिक मिसाइलें दागी

उत्तर कोरिया ने दो बैलिस्टिक मिसाइलें दागी 

सुनील श्रीवास्तव 
प्योंगयांग/सियोल। उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की सनक किसी ना किसी दिन दुनिया में तबाही ला देगी। दक्षिण कोरिया की सेना ने कहा है, कि उत्तर कोरिया ने दो बैलिस्टिक मिसाइलें दागी हैं और दूसरी मिसाइल फेल होकर फट गई है।
दक्षिण कोरिया ने कहा है, कि बेकाबू मिसाइल लॉन्च होने के बाद फट गई और मलबा जमीन पर गिरा है। सोमवार को उत्तर कोरिया ने मिसाइलों की लॉन्चिंग उस वक्त की है, जब अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान ने सैन्य अभ्यास किया है और उत्तर कोरिया ने चेतावनी देते हुए कहा था, कि 'आक्रामक और जबरदस्त' प्रतिक्रिया देगा।
दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ ने एक बयान में कहा है, कि मिसाइलों को दक्षिण-पूर्वी उत्तर कोरिया के जंगयोन शहर से उत्तर-पूर्व दिशा में 10 मिनट के अंतराल पर लॉन्च किया गया था।
दक्षिण कोरिया की सेना ने कहा है, कि पहली मिसाइल 600 किमी और दूसरी 120 किमी तक उड़ी। हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया, कि ये मिसाइलें कहां गिरी हैं। उत्तर कोरिया आमतौर पर अपने पूर्वी जल क्षेत्र की ओर मिसाइलों का परीक्षण करता है, लेकिन दूसरी मिसाइल की उड़ान दूरी इतनी दूर तक नहीं थी, कि वो जल क्षेत्र तक पहुंचे, लिहाजा वो जमीन पर ही गिर गई।
दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ के प्रवक्ता ली सुंग-जून ने बाद में एक ब्रीफिंग में बताया है, कि ऐसा लगता है, कि दूसरी मिसाइल में कुछ समस्या थी और अगर यह फट गई है, तो इसका मलबा संभवतः जमीन पर गिरा है।
दक्षिण कोरियाई मीडिया ने अज्ञात दक्षिण कोरियाई सैन्य सूत्रों का हवाला देते हुए कहा है, कि यह बहुत संभव है कि दूसरी मिसाइल उत्तर कोरिया के जमीन पर ही दुर्घटनाग्रस्त हो गई है, जबकि पहली मिसाइल देश के पूर्वी शहर चोंगजिन के जलक्षेत्र में गिरी है।

उत्तर कोरिया की विनाशक नीति

सोमवार को उत्तर कोरिया की ओर से पांच दिनों में पहला प्रक्षेपण किया गया है और यह तब किया गया है, जब अमेरिका, दक्षिण कोरिया और जापान ने अपने "फ्रीडम एज" अभ्यास खत्म किया है, जिसका मकसद उत्तर कोरिया की आक्रामकता से मुकाबला करना था।
उत्तर कोरिया आमतौर पर ऐसे सैन्य अभ्यासों को आक्रमण बताता है और देश के खिलाफ शत्रुता बताता है।
अलजजीरा की एक रिपोर्ट में सियोल में इवा वूमन्स यूनिवर्सिटी में अंतरराष्ट्रीय अध्ययन के प्रोफेसर लीफ-एरिक इस्ले ने ईमेल की गई टिप्पणियों में कहा, कि "उत्तर कोरियाई राजनीति और सैन्य नीति दोनों में, सबसे अच्छा बचाव अक्सर एक अच्छे हमले को माना जाता है।" उन्होंने कहा, कि "उत्तर कोरिया अपनी सेना को कमजोर नहीं दिखाना चाहता है।"
पिछले बुधवार को उत्तर कोरिया ने मल्टीवारहेड मिसाइल लॉन्च की, जो अमेरिका और दक्षिण कोरिया की मिसाइल रक्षा प्रणाली को काउंटर करने के लिए विकसित, एडवांस हथियार का पहला ज्ञात परीक्षण था, हालांकि दक्षिण कोरिया ने इस दावे पर सवाल उठाए हैं। उसने कहा कि प्योंगयांग ने हाइपरसोनिक मिसाइल लॉन्च की थी, लेकिन यह नियंत्रण से बाहर हो गई और विस्फोट हो गया।
माना जा रहा है, कि कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव काफी तेज हो गया है और उत्तर और दक्षिण कोरिया बारूद की ढेर पर बैठे दिख रहे हैं, जिसमें संघर्ष की एक चिंगारी विनाशक तबाही ला सकती है।

600 छक्के लगाने वाले पहले बल्लेबाज बनें रोहित

600 छक्के लगाने वाले पहले बल्लेबाज बनें रोहित 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। टी20 वर्ल्ड कप के दौरान भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने कई बड़े रिकॉर्ड्स अपने नाम किए। रोहित शर्मा इंटरनेशनल मैचों में 600 छक्के लगाने वाले पहले बल्लेबाज बनें। उन्होंने आयरलैंड के खिलाफ यह मुकाम हासिल किया।
रोहित शर्मा के अलावा अन्य किसी बल्लेबाज ने क्रिकेट इतिहास में 600 छक्के नहीं लगाए हैं।
साथ ही रोहित शर्मा टी20 फॉर्मेट में 200 छक्के लगाने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बन गए हैं। भारतीय कप्तान ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यह मुकाम हासिल किया। उन्होंने अपने 159 इंटरनेशनल मैचों में 205 छक्के लगाए।
रोहित शर्मा ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीनों फॉर्मेट में 80 मैच खेले है, जिसमें उन्होंने रिकॉर्ड 132 छक्के लगाए। यह किसी बल्लेबाज का किसी एक टीम के खिलाफ सबसे ज्यादा छक्के का रिकॉर्ड है।
इसके अलावा रोहित शर्मा टी20 फॉर्मेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। रोहित शर्मा ने 159 टी20 मैचों में 4145 रन बनाए हैं।
साथ ही रोहित शर्मा 50 इंटरनेशनल टी20 मैच जीतने वाले पहले कप्तान बन गए हैं। रोहित शर्मा की कप्तानी में भारत ने 62 टी20 खेले, जिसमें 50 जीत मिली।
रोहित शर्मा एकमात्र कप्तान हैं, जिन्होंने टी20 वर्ल्ड कप में 100 फीसदी मैच जीते हैं। इस टी20 वर्ल्ड कप में भारत ने अपने सारे मैच जीते। भारतीय टीम ने आयरलैंड के खिलाफ अपने अभियान का आगाज किया था। जबकि फाइनल में साउथ अफ्रीका को हराकर ट्रॉफी अपने नाम की। 
इसके अलावा रोहित शर्मा 2 टी20 वर्ल्ड कप जीतने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं। इससे पहले भारतीय टीम ने टी20 वर्ल्ड कप 2007 अपने नाम किया था, रोहित शर्मा उस भारतीय टीम का हिस्सा थे।

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया

'बुंदेलखंड' को निवेश का नया गंतव्य बनाया  संदीप मिश्र  लखनऊ। कभी पिछड़े क्षेत्र के रूप में पहचान रखने वाले बुंदेलखंड को योगी सरकार न...