सोमवार, 5 जून 2023

एसडीएम को ज्ञापन देकर, कार्रवाई की मांग की

एसडीएम को ज्ञापन देकर, कार्रवाई की मांग की

अश्वनी उपाध्याय 

गाजियाबाद। लोनी क्षेत्र में आवैधानिक तरिके से ओयो होटलों की आड़ में देह व्यापार हो रहा है। जोकि, दिन-प्रतिदिन चरम पर पहुँच रहा है, तथा ओयो होटलों में स्कूल के नाबालिग बच्चे लगभग 15-17 उम्र के बच्चे भी जाते है। ओयो होटलों वाले भी अधिक पैसे कमाने की लालच में बच्चे को रूम उपलब्ध कराते है, जोकि समाज के बहुत घातक सिद्ध हो रहा है, तथा समाज पर भी दुष्प्रभाव पड़ रहा है, जिनका बन्द होना अति आवश्यक है। पूर्व में एस.डी.एम. रही सुभांगी शुक्ला द्वारा इन ओयो होटलों को बन्द करा दिया गया था। किन्तु, भ्रष्ट अधिकारियों की मिली भगत से इन होटलों को फिर से चालू करा दिया गया है नितिन शर्मा ने कहा कि अगर 15 दिनों के अन्दर ओयो होटलों को बन्द नहीं कराया गया, तो प्रशासन के खिलाफ व भ्रष्ट अधिकारियो के खिलाफ आन्दोलन करने के लिए समस्त हिन्दू समाज गजवूर होगा।

लोनी क्षेत्र में से उचित जांच पड़ताल कर ओयो होटलों को बन्द कराई जाए। हिंदू जागरण मंच के जिला संयोजक नितिन शर्मा ने लोनी नगर पालिका में उप जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर कार्रवाई की मांग की। नितिन शर्मा के साथ पवन शर्मा, सतीश गुर्जर, विक्रम गुर्जर, भोले बसोया, सुमित त्यागी, रामप्रवेश, रामवीर यादव, सोनू यादव, महेश शर्मा, विकास धामा, अंशु शर्मा, नीतू और मीनू प्रजापति, सुनीता, श्यामसुंदर, विक्की झा, लोमेश एवं हजारों कार्यकर्ता मौजूद रहे।

पर्यावरण: डीएम ने कार्यक्रम को संबोधित किया

पर्यावरण: डीएम ने कार्यक्रम को संबोधित किया 

पेड़-पौधों के बिना नहीं की जा सकती जीवन की कल्पना:  जिलाधिकारी

डीएम ने कहा, कि पर्यावरण संरक्षण के अनुरूप जीवन शैली अपनाना चाहिए, कम से कम एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए।

जिलाधिकारी ने गोल्डेन कार्ड बनाये जाने में उत्कृष्ट कार्य करने वाले पंचायत सहायकों को प्रशस्ति पत्र देकर किया सम्मानित

कौशाम्बी। जिलाधिकारी सुजीत कुमार ने विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर कलेक्ट्रेट स्थित सम्राट उदयन सभागार में आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम सब लोग वृक्ष के महत्व के बारे में भली-भांति जानते हैं। पेड़-पौधों के बिना जीवन की कल्पना भी नहीं की जा सकतीं। हमारे जीवन के लिए धरातल पर अधिक से अधिक पेड़-पौधों का होना अत्यन्त आवश्यक है। वह प्रत्येक तत्व, जिसका उपयोग हम जीवित रहने के लिए करते हैं, वह सभी पर्यावरण के अन्तर्गत आते हैं।
हमारा पर्यावरण धरती पर स्वस्थ्य जीवन को अस्तित्व में रखने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। सुरक्षित जीवन के लिए धरातल पर मानक के अनुसार 33 प्रतिशत वन आच्छादित होना चाहिए, जबकि हमारे देश के भौगोलिक क्षेत्र के लगभग 23 प्रतिशत भाग ही वन आच्छादित है एवं उ.प्र. के भौगोलिक क्षेत्र के लगभग 09 प्रतिशत भाग ही वन आच्छादित है। केन्द्र व प्रदेश सरकार के विशेष प्रयास से वनावरण विगत वर्षों से लगातार बढ़ रहा हैं। जिलाधिकारी ने सभी से अपील करते हुए कहा कि अधिक से अधिक पौधारोपण करें।
हम सभी को कम से कम एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए और उसका संरक्षण करना चाहिए। हम सभी को पर्यावरण संरक्षण के अनुरूप जीवन शैली अपनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम सब अपने दिनचर्या में बदलाव लाकर पर्यावरण का संरक्षण कर सकतें है यथा-कागज को अनावश्यक नष्ट न करें, नदी तालाब को गन्दा न करें एवं जब आवश्यक न हो तो विद्युत उपकरणों को बन्द रखें। कार्यक्रम में धर्मा देवी इंटर कॉलेज केन के छात्र राजा पाण्डेय, अनुराग, आलोक त्रिपाठी व छात्रा-तान्या सिंह ने पर्यावरण विषय पर अपने सम्बोधन के माध्यम से जीवन में पेड़-पौधों की महत्ता व संरक्षण पर प्रकाश डाला तथा आमजन को पर्यावरण के प्रति जागरूक किया।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी डॉ. रवि किशोर त्रिवेदी, प्रभागीय वनाधिकारी डॉ. आर.एस. यादव एवं जिला पंचायत राज अधिकारी बालगोविन्द श्रीवास्तव एवं एस.डी.ओ. (वन) सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहें।तत्पश्चात जिलाधिकारी एवं मुख्य विकास अधिकारी ने आयुष्मान भारत योजना के तहत गोल्डेन कार्ड बनाएं जाने में उत्कृष्ट कार्य करने वाले प्रत्येक विकास खण्ड के 03-03 पंचायत सहायकों को प्रशस्ति-पत्र एवं मोमेण्टों देकर सम्मानित किया।

सुशील केसरवानी 

हमको पर्यावरण का ध्यान रखना चाहिए: शुक्ला

हमको पर्यावरण का ध्यान रखना चाहिए: शुक्ला


वृक्ष है तो जीवन है: डॉ. रश्मि शुक्ला

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज। समाजिक सेवा एवं संस्थान ने अंतरराष्ट्रीय दिवस मनाया। संस्था की अध्यक्षा वरिष्ठ समाजसेवी डॉ. रश्मि शुक्ला ने कहा कि हमको पर्यावरण का ध्यान रखना चाहिए। जलवायु , भूमि, जल, आकाश  सभी की देखभाल करनी चाहिए। पर्यावरण को शुद्ध स्वच्छ रखना है।

आम, नीम, केला बरगद, पीपल, अशोक इत्यादि अननेक पेड़ों को लगाना चाहिए। हम वृक्षों की सेवा करते हैं। उनकी पूजा करते हैं, ऊर्जा भी मिलती है। इसलिए, जिन पेड़ों की हम पूजा करते हैं। उन पेड़ों को अवश्य लगाना चाहिए।राष्ट्रीय दिवस त्योहार, जन्मदिन पर आदि अनेक शुुभअवसर जीवन में आते हैं, इन अवसर पर हमें पौधों को देना चाहिए।और पौधों को उपहार में लेेना और देना चाहिए। पौधे बड़े होकर वृक्ष बनकर छाया देते हैं। ऑक्सीजन देते हैं। फल देते हैं। कोई भी उपहार थोड़े दिन साथ देता है। परंतु, यदि हम उपहार में मिला पौधा लगाएं, वह हमें अनेक लाभ देगा और हमारे आने वाली पीढ़ी को भी लाभ देता है ।इन सभी बातों का हम लोग को ध्यान रखना है।

प्लास्टिक का उपयोग नही करना चाहिए। प्लास्टिक मुक्त वातावरण होना चाहिए। यह वर्तमान समय में बहुत ही आवश्यक है, प्लास्टिक से वातावरण प्रदूषित होता है। सब संभव है, यदि हम प्रयत्न करें। वृक्ष को अपने जीवन के उपहार में लाना चाहिए कोई भी महत्वपूर्ण दिन पर पौधा उपहार स्वरूप मिलें तो आप उनको यथा स्थान पर लगाते हैं। बड़ा होकर पौधा वृक्ष बनकर हमें फल और छाया जीवन पर्यंत देते हैं, यह उपहार लाभकारी होता है और कोई उपहार तो थोड़े दिन का होता है, फिर वह नष्ट हो जाता है।

परंतु पौधा रूपी दिया गया उपहार वृक्ष बनके जीवन पर्यंत सुख देता है। आपको भी शुभ देता है और आपके आसपास सभी लोगों के लिए लाभकारी होता है। शोभा ने कहा, कि वृक्ष हमें भी लाभ देता है और हमारी आने वाली पीढ़ी को भी सुख देता है। वर्षा ऋतु आने वाली है। इस ऋतु में ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने चाहिए। क्योंकि, इस समय पौधे बहुत जल्दी पनप जाते हैं। उनकी सेवा भी कम करनी पड़ती है।नीम,अशोक, आम,बरगद इत्यादि अनेक वृक्ष बहुत जल्दी लगते हैं। इनमें श्रम कम करना पड़ता है और यह छाया भी देते हैं, इनकी आयु भी लंबी होती है।

शबीना ने कहा आम का पेड़ लगाने से हमें उसके फल से बहुत तरह से लाभ होता है। हम चटनी मुरब्बा अचार इत्यादि इस्तेमाल करते हैं। नीलमा ने कहा, कि वृक्ष को लगाने से स्वरोजगार भी मिल जाता है। विद्या ने कहा जिन वृक्षों की हम पूजा करते हैं, उन्हें अवश्य लगाएं। नीलिमा ने कहा, कि पर्यावरण स्वच्छ और अच्छा होता है। हर व्यक्ति को अपने जीवन में वृक्ष लगाना चाहिए इसी तरह से विद्या छाया अन्नपूर्णा शालू सिंपल शोभा किरण सब ने अपने-अपने विचार व्यक्त किए। छाया ने बताया, कि वह वृक्षों से कैसे लाभ लेते हैं ?

अन्नपूर्णा ने समझाया कैसे वृक्ष लगाइए और उनको कैैसे जीवित भी रखिए ? यह मेरा, हम सब का कर्तव्य होना चाहिए। सभी ने संकल्प लिया, कि हम ज्यादा से ज्यादा वृक्ष लगाएंगे और उपहार में पौधें देंगे। मातृ शक्ति ने वृक्षारोपण किया। उपवन, वृक्ष और वातावरण से संबंधित रंगारंग ससांस्कृतिक कार्यक्रम किया।

बच्चों ने स्लोगन द्वारा पर्यावरण जागरूकता का संदेश दिया, उक्त अवसर पर किरण, अलीशा, सुमन, डॉली, समीना, शोभा, विद्या, मोंटू, इन्दिरा, सिंपल, नीतू ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। शालू ने कार्यक्रम का संचालन किया। अंत में सब ने जलपान ग्रहण किया।

'पर्यावरण' संरक्षण की ऑनलाइन शपथ दिलाई

'पर्यावरण' संरक्षण की ऑनलाइन शपथ दिलाई


प्रदूषण के दुष्परिणामों से बचने को पर्यावरण अनुकूल आचरण अनिवार्य: सीएम योगी

विश्व पर्यावरण दिवस समारोह

'रेस फॉर लाइफ: सर्कुलर इकॉनमी एवं लोकल क्लाइमेट एक्शन' विषयक कांफ्रेंस में बोले मुख्यमंत्री

सीएम ने 58000 ग्राम पंचायतों व 762 नगर निकायों में पर्यावरण संरक्षण की दिलाई ऑनलाइन शपथ

गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पर्यावरण के प्रत्येक क्षेत्र में दिख रहे प्रदूषण पर गहरी चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि प्रदूषण पर नियंत्रण और पर्यावरण संरक्षण के लिए सरकार अपने स्तर पर गंभीर प्रयास कर रही है। लेकिन, इसके साथ ही प्रदूषण के घातक दुष्परिणामों से बचने के लिए हर व्यक्ति को पर्यावरण अनुकूल आचरण अनिवार्य रूप से करना होगा। 

सीएम योगी सोमवार को वन, पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग की तरफ से आयोजित विश्व पर्यावरण दिवस समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। योगिराज बाबा गंभीरनाथ प्रेक्षागृह में आयोजित  'रेस फॉर लाइफ : सर्कुलर इकॉनमी एवं लोकल क्लाइमेट एक्शन' विषयक कांफ्रेंस में मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्व पर्यावरण दिवस के आयोजन की शुरुआत के साथ पर्यावरण संकट पर चिंता 51 वर्ष पूर्व से की जा रही है। 51 वर्षों की आर्थिक विकास यात्रा में पर्यावरण कहां छूट गया, यह चिंतनीय है।

उन्होंने कहा कि पर्यावरण पृथ्वी, जल, वायु, पेड़-पौध सबका समन्वित रूप है। हम सबकी रचना भी पंचतत्वों के इर्दगिर्द हुई है। हमारा जीवन चक्र व सृष्टि एक दूसरे से जुड़े हुए हैं लेकिन हमने सृष्टि के तत्वों जल, वायु को प्रदूषित किया। इसका खामियाजा हमें विभिन्न प्रकार की बीमारियों के रूप में भुगतना पड़ रहा है। लोगों की कमाई का बड़ा हिस्सा इन बीमारियों के उपचार पर खर्च हो जा रहा है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय मनीषा के मंत्र इस बात के प्रमाण हैं कि हमारे पूर्वजों ने सृष्टि के प्रत्येक वस्तु के कल्याण की बात की है। कल्याण मतलब कोई भी वस्तु प्रदूषित न होने पाए। पहले हम  यज्ञ करते थे, घर-घर हवन होता था। इन सबको तिलांजलि देकर हमनें ऐसी जीवन पद्धति अपना ली जो आज हमारे लिए ही घातक हो गई। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के साथ छेड़छाड़ करने का दुष्परिणाम प्रदेश के कुछ हिस्सों में सितंबर-अक्टूबर की असमय बाढ़ या दिल्ली में नवंबर-दिसंबर के स्मॉग के रूप में सामने है। दिल्ली में तो ऐसा संकट होता है कि लोगों को श्वांस लेने, आंखें खोलने में दिक्कत होने लगती है। उद्योगों को बंद करना पड़ता है। कभी सूखा तो कभी अतिवृष्टि से अन्न का संकट भी खड़ा हो सकता है। 

पर्यावरण अनुकूल ऊर्जा को प्रोत्साहित कर रही है सरकार...

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कार्बन उत्सर्जन कम कर पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से सरकार पर्यावरण अनुकूल ऊर्जा को प्रोत्साहित कर रही है। इसके लिए शहर ही नहीं गांवों में एलईडी लाइट की व्यवस्था की जा रही है। एलईडी कार्बन उत्सर्जन कम करने का माध्यम बन रहा है। इसी तरह सोलर पावर को भी बढ़ावा दिया जा रहा है। 

नमामि गंगे से निर्मल एवं अविरल हुई गंगा...

सीएम योगी ने पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में नमामि गंगे प्रोजेक्ट का उल्लेख करते हुए कहा कि आज प्रयागराज, काशी में गंगा जी का जल स्वच्छ व अविरल हो गया है। लोग प्रसन्नता से इसका आचमन व स्नान कर रहे हैं। जबकि पहले लोग प्रयागराज कुंभ में आचमन, स्नान नहीं कर पाते थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल संरक्षण के लिए ही पीएम मोदी के मार्गदर्शन में आजादी के अमृत महोत्सव में गांव-गांव अमृत सरोवर बन रहे हैं। उन्होंने ग्राम प्रधानों से तालाबों के संरक्षण और उनके चारों तरफ पौधरोपण का आह्वान भी किया। साथ ही हर घर नल योजना में भी पानी की बर्बादी रोकने की अपील की। 

प्रदूषण व गंदगी थे इंसेफेलाइटिस के कारण...

सीएम योगी ने चार दशक में पूर्वी उत्तर प्रदेश में पचास हजार मासूमों को असमय काल कवलित करने वाली बीमारी इंसेफेलाइटिस का जिक्र करते हुए कहा इसके कारण प्रदूषण व गंदगी थे। पर्यावरण व स्वच्छता के प्रति जागरूक होकर इसे दोबारा पैर पसारने से रोकने के लिए सबको प्रयास करना होगा। 

सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल पाप के समान...

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वर्ष विश्व पर्यावरण दिवस का ध्येय वाक्य है, सॉल्यूशन फॉर प्लास्टिक पॉल्यूशन। प्रदेश में इसे 2018 में ही बैन कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल पाप के समान है। फेंके गए प्लास्टिक को गाय खाकर मर जाती हैं तो गोमाता की हत्या का पाप लगता है। कभी नष्ट न होने से यह प्लास्टिक धरती मां के स्वास्थ्य पर भी बुरा असर डालती है। 

पर्यावरण संरक्षण को सिक्स आर का मंत्र दिया...

मुख्यमंत्री ने प्लास्टिक से पर्यावरण के संरक्षण के लिए सिक्स आर का मंत्र दिया। उन्होंने रिड्यूस, रियूज, रिसाइकल, रिकवर, रिफैब्रिकेट और रिपेयर के फार्मूले को अपनाने की अपील की। 

हर ग्राम पंचायत लगवाए एक हजार पौधे...

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने जुलाई माह के प्रथम सप्ताह में चलाए जाने वाले वन महोत्सव की जानकारी भी साझा की। बताया कि प्रदेश सरकार ने 35 करोड़ पौधरोपण का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश की सभी ग्राम पंचायतों में कम से कम एक-एक हजार पौधरोपण होना चाहिए। यदि सभी ग्राम पंचायत और नगर निकाय इस लक्ष्य को अपना लें तो छह करोड़ पौधरोपण इनके द्वारा ही हो जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि 25 करोड़ की आबादी वाले राज्य में 35 करोड़ पौधरोपण कोई चुनौती नहीं है। हर व्यक्ति एक पौधा लगाए तो 25 करोड़ पौधरोपण अपने आप दिखेगा। मुख्यमंत्री ने पौधे लगाने के साथ उनकी रक्षा का दायित्व लेने की भी अपील की। इसका महत्व बताते हुए कहा कि वन आच्छादित क्षेत्र में तापमान 5 से 6 डिग्री कम रहता है और भीषण गर्मी से राहत मिलती है। उन्होंने पौधरोपण में पीपल, बरगद, पाकड़, नीम, जामुन, देसी आम जैसे पारंपरिक वृक्षों को प्राथमिकता देने का अनुरोध किया। 

मुख्यमंत्री के साथ सभी ग्राम पंचायतों व नगर निकायों में लाइफ प्रतिज्ञा...

विश्व पर्यावरण दिवस समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी 58000 ग्राम पंचायतों व 762 नगर निकायों में पर्यावरण संरक्षण के लिए ऑनलाइन माध्यम से शपथ (लाइफ प्रतिज्ञा) दिलाई। गोरखपुर जनपद के प्रधान, निकाय प्रतिनिधि कार्यक्रम स्थल पर मौजूद रहे तो अन्य सभी ग्राम प्रधान, नगर पंचायत अध्यक्ष, नगर पालिका अध्यक्ष, महापौर व ग्राम पंचायतों, नगर निकायों से जुड़े अधिकारी-कर्मचारी  ऑनलाइन जुड़कर पर्यावरण अनुकूल व्यवहार खुद करने तथा इसके लिए दूसरों को प्रेरित करने की शपथ लिए। 

कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी ने पर्यावरण संरक्षण पर केंद्रित वन विभाग की पुस्तिकाओं, फोल्डर व एनिमेशन फिल्म का विमोचन किया। समारोह को संबोधित करने के पूर्व उन्होंने वन विभाग, वन निगम, नगर निगम एवं अन्य विभागों, स्वयंसेवी संस्थाओं की तरफ से लगाए गए स्टालों का अवलोकन किया। प्लाटिक मुक्ति के लिए कपड़े का बैग देने वाली वेंडिंग मशीन का लोकार्पण किया और मशीन देखकर प्रसन्नता जताई। स्टाल के पास सैंड आर्टिस्ट रमेश ने सीएम योगी का रेत से रंगीन चित्र उकेरा था। मुख्यमंत्री ने आर्टिस्ट की सराहना की। 

नदियों-वृक्षों की पूजा की रही है भारतीय संस्कृति: वन मंत्री

विश्व पर्यावरण दिवस समारोह में वन एवं पर्यावरण राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डॉ अरुण कुमार सक्सेना ने कहा कि प्लास्टिक मुक्ति के इस आयोजन के ध्येय से सबको जुड़ना होगा। पर्यावरण का पौराणिक महत्व बताते हुए उन्होंने कहा कि हमारी संस्कृति नदियों, वृक्षों, वायु की पूजा करने की रही है। हमें यह सोचना होगा कि हम भावी पीढ़ी के लिए कैसा जीवन देंगे। वन मंत्री ने कहा कि पीएम मोदी ने 2021 में पर्यावरणीय अनुकूल जीवन शैली का संदेश दिया था। इस संदेश का निरंतर अनुसरण करने की आवश्यकता है। उन्होंने अधिक पौधे लगाने, पानी-बिजली की बर्बादी न करने की अपील की। 

सीएम योगी के जन्म के दिन हुआ विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का निर्णय: मुख्य सचिव

इस अवसर पर प्रदेश शासन के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि हमारे पुरखे पर्यावरण को लेकर इतने जागरूक थे कि वे एक वृक्ष को दस कुएं और एक कुएं को दस पुत्र के समान मानते थे। उन्होंने सिंगल यूज प्लास्टिक को कैंसर व अन्य बीमारियों का कारक बताया। मुख्य सचिव ने कहा कि यह भी दैव व सुखद संयोग है कि जिस दिन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जन्म हुआ, उसी दिन (5 जून 1972) स्वीडन के स्काटहोम में पर्यावरण पर आयोजित संयुक्त राष्ट्र के सम्मेलन में विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का निर्णय हुआ था।

पर्यावरण संरक्षण के लिए इलेक्ट्रिक वेहिकल को बढ़ावा दे रहे सीएम योगी: रविकिशन

सांसद रविकिशन शुक्ल ने कहा कि विकास के हर क्षेत्र में प्रदेश को तेजी से आगे बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर्यावरण संरक्षण को लेकर भी बेहद संवेदनशील हैं। इसी सिलसिले में वह यूपी में इलेक्ट्रिक वेहिकल को बढ़ावा दे रहे हैं। उन्होंने पर्यावरण पर सीएम के प्रयासों की चर्चा के साथ उनकी फिटनेस का राज भी बताया। 

समरोह में आभार ज्ञापन अपर मुख्य सचिव वन एवं पर्यावरण मनोज सिंह ने किया। इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती साधना सिंह, भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं एमएलसी डॉ धर्मेंद्र सिंह, विधायक फतेह बहादुर सिंह, महेंद्रपाल सिंह, विपिन सिंह, डॉ विमलेश पासवान, प्रदीप शुक्ल, सरवन निषाद, प्रमुख मुख्य वन संरक्षक ममता संजीव दूबे, प्रमुख सचिव नगर विकास अमृत अभिजात, नगर आयुक्त गौरव सिंह सोगरवाल, प्रभागीय वनाधिकारी विकास यादव आदि उपस्थित रहे। 

सबने दी मुख्यमंत्री को जन्मदिन की बधाई...

विश्व पर्यावरण दिवस समारोह में  सभी लोगों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उनके जन्मदिन की बधाई दी। वन मंत्री डॉ अरुण सक्सेना, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, सांसद रविकिशन ने अपने संबोधनों की शुरुआत ही सीएम को जन्मदिन की बधाई देते हुए की। रविकिशन ने कहा कि आज महाराज जी के जन्मदिन पर पूरे प्रदेश में दिवाली जैसा माहौल है। लोग पौधे लगा रहे हैं। सोशल मीडिया बधाई संदेशों से भरा पड़ा है।

भाजपा पार्षद पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज

भाजपा पार्षद पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज


गाजियाबाद में भाजपा पार्षद पर मुकदमा

इकबाल अंसारी 

गाजियाबाद। गाजियाबाद में भाजपा पार्षद पर लोनी के ट्रॉनिका सिटी थाने में गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ है। जानकारी के अनुसार, राम पार्क एक्स लोनी की रहने वाली पीडिता ने लोनी के ट्रॉनिका सिटी थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है, कि उसे पिछले 2 दिनों से शहनावाज और उसके दोस्त उसे परेशान करते हैं, बीच रास्ते में बदतमीजी करते हैं और शाहनवाज ने पीडिता के साथ गाली-गलौज भी की। खुशी ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसके भाई को भी मारपीट करने के लिए लाठी डंडे लेकर कुछ बदमाश भेजे थे।

रिपोर्ट के डर से पीड़िता को धमकाया...

पीड़िता ने रिपोर्ट में कहा, कि जब शहनावाज को रिपोर्ट की जानकारी हुई, तब उसके घर वाले रिपोर्ट ना लिखवाने के लिए धमकाने लगे और मेरे घर वालों को धमकाया।

वार्ड 48 के सभासद समेत शहनावाज के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

पीडिता ने वार्ड 48 पूजा कालोनी के पार्षद अनूप बढ़ाना और शहनवाज के खिलाफ 354(क) किसी महिला की शील भंग करने के इरादे से उस पर हमला करना,या आपराधिक बल का उपयोग करना।

 354(ग) किसी स्त्री के सम्मान को क्षति पहुंचाना, या उस पर हमला कर लज्जा भंग करने की कोशिश करना।

 354(ख)इस धारा के अनुसार, जो किसी महिलाओं को सार्वजनिक स्थान पर विवस्त्र करने के लिए आपराधिक बल का उपयोग करता है, या उसे नग्न करने के इरादे के साथ हमला करना।

धारा 504, कोई व्यक्ति किसी को उकसा कर उसका अपमान करना और शांति भंग करने के इरादे से जानबूझकर उसका अपमान करना और धारा 506 धमकी देने के मामले में रिपोर्ट दर्ज की गई है।

अभी तक इस मामले में पुलिस के जरिए किसी की गिरफ्तारी नहीं की गई। पीड़िता अभी भी डर के माहोल में जी रही है।

क्रिकेट फाइनल मैच में सम्मिलित हुए उपाध्याय 

क्रिकेट फाइनल मैच में सम्मिलित हुए उपाध्याय 


रायपुर पश्चिम के विधायक विकास उपाध्याय आज विभिन्न सामाजिक एवं धार्मिक कार्यक्रमो में हुए शामिल

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। सुबह सवेरे विकास उपाध्याय अपने विधानसभा सरोना स्थित हो रहे जीपीएल टी-10 क्रिकेट फाइनल मैच में मुख्य अतिथि के रूप में सम्मिलित हुए और विजेता और उपविजेता टीम को पुरुस्कार वितरण कर उनका हौसला बढ़ाया। तत्पश्चात, विकास उपाध्याय छत्तीसगढ़ योग आयोग द्वारा आज वार्ड क्रमांक 17 में ठक्कर बप्पा वार्ड में योग अभ्यास केंद्र के शुभारंभ में शामिल हुए। योग केंद्र का शुभारंभ हनुमान चालीसा से हुआ। इस कार्यक्रम में योग आयोग के अध्यक्ष ज्ञानेश शर्मा एवं अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे। इस अवसर पर विकास उपाध्याय ने बताया कि "मन और आत्मा को और खूबसूरत सिर्फ योग से बनाया जा सकता है I"

इसके उपरांत रायपुर पश्चिम के विधायक विकास उपाध्याय आज सतगुरु कबीर साहब की जयंती पर बढ़ई पारा से निकाले गये भव्य जुलूस में शामिल होने का सौभाग्य प्राप्त किया। इस अवसर पर संत कबीर साहेब जी को नमन करते हुए विकास उपाध्याय उनके बताए मार्ग का अनुसरण करने का आव्हान किया और कहा कि संत कबीर दास जी हिंदी साहित्य के ऐसे प्रसिद्ध कवि थे, जिन्होंने समाज में फैली भ्रांतियों और बुराइयों को दूर करने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया।

रायपुर पश्चिम विधानसभा स्थित श्री श्री सोलापुरी माता सन्यासी पारा, खमतराई में आज माता को 56 भोग का प्रसाद अर्पण किया गया। इस शुभ अवसर पर विधायक विकास उपाध्याय ने माता का आशीर्वाद लिया और पूरे प्रदेश वासियों के सुख और खुशहाली  के लिए प्रार्थना की। प्रदेश की भूपेश सरकार लगातार जनता के हितो को सर्वोपरि मानते हुए विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन करवा रही हैं आज रायपुर ज़िला खनिज संस्थान न्यास के मार्गदर्शन में संचालित  कौशल उन्नयन कार्यक्रम में विधायक विकास उपाध्याय शामिल हुए। इस अवसर टैटू कलाकारों के हुनर को देखते हुए, सबसे छोटे कलाकार से विधायक महोदय ने अपने हाथ में भगवान शिव की छवि बनवाई।

उन्होंने मुख्यमंत्री माननीय भूपेश बघेल का आभार व्यक्त करते हुऐ कहा कि ऐसे प्रशिक्षण केंद्र की शुरुआत से लोगों को प्रशिक्षण तो प्राप्त होगा। साथ ही रोज़गार के भी नया अवसर मिलेगी।

दिल्ली के निर्देश पर काम करते हैं शिंदे व फडणवीस 

दिल्ली के निर्देश पर काम करते हैं शिंदे व फडणवीस 

अकांशु उपाध्याय/कविता गर्ग 

नई दिल्ली/मुंबई। महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने सोमवार को कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस दिल्ली के निर्देश पर काम करते हैं और वे दिल्लीवासियों के कहे बिना कोई फैसला नहीं कर सकते। पटोले ने पत्रकारों से कहा कि मुख्यमंत्री शिंदे ने स्वयं छत्रपति संभाजीनगर बैठक में सार्वजनिक रूप से कहा है कि वह मोदी-शाह का हाथ हैं।

जब दिल्ली में कैबिनेट विस्तार की बात आती है, तो इस तरह की चर्चाएं होती रहती हैं, क्योंकि दिल्ली को ध्यान में रखे बिना इसका समाधान नहीं हो सकता, सरकार संभालना मुश्किल काम है। उन्होंने कहा कि कई विभागों में साल भर से कोई मंत्री नहीं है, हर मंत्री छह-सात विभागों का प्रभारी है और छह-छह जिलों में एक ही अभिभावक मंत्री है, जिसके कारण राज्य का प्रशासन ठप पड़ा है।

पटोले ने कहा कि मंत्री के पास किसी भी विभाग को न्याय देने की शक्ति नहीं है। प्रशासन ठप्प है और काम नहीं हो रहा है, इसलिए लोगों को परेशानी हो रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि लोगों का काम नहीं होता है, लेकिन शिंदे-फडणवीस सरकार को इसकी चिंता नहीं है।

उन्होंने कहा कि आज प्रदेश के कई इलाकों में पानी की भारी किल्लत है, किसान बेचैन हैं, बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से हुए नुकसान की भरपाई किसानों को अभी तक नहीं मिल पायी है। किसान अपना उत्पाद सड़क पर डालने आ गए हैं, कपास अब भी किसान के घर के पास ही हैं, लेकिन शिंदे सरकार का उनसे कोई लेना-देना नहीं है। बड़ी-बड़ी घोषणाएं की गईं और आयोजन कर जनता को लूटने का काम शुरू हो गया है। पटोले ने कहा कि राज्य के लोग शिंदे-फडणवीस सरकार से तंग आ चुके हैं और आगामी चुनावों में उन्हें घर बैठा देंगे।

पुल के ढहने को लेकर 'सच्चाई छिपा रहे हैं' यादव 

पुल के ढहने को लेकर 'सच्चाई छिपा रहे हैं' यादव 

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। बिहार भाजपा ने सोमवार को आरोप लगाया कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव राज्य में एक निर्माणाधीन पुल के ढहने को लेकर ''सच्चाई छिपा रहे हैं''। भगवा पार्टी ने राजद नेता की इस टिप्पणी के लिए उनकी आलोचना की कि गंगा नदी पर निर्माणाधीन उक्त पुल के "कई संरचनात्मक दोषों" को विशेषज्ञों द्वारा इंगित किया गया है। यह पुल खगड़िया जिले को भागलपुर से जोड़ने के लिए बनाया जा रहा है।

तेजस्वी की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता और राज्य के सड़क निर्माण विभाग के पूर्व मंत्री नितिन नवीन ने कहा, ''मुझे कहना होगा कि उपमुख्यमंत्री सच्चाई छिपा रहे हैं...वह तथ्यों का खुलासा नहीं कर रहे हैं। जब पुल का निरीक्षण करने वाले विशेषज्ञों ने पहले ही सरकार को सूचित कर दिया था कि गंभीर संरचनात्मक दोष थे, तो सरकार ने निर्माण कार्य जारी रखने की अनुमति क्यों दी?

विभाग को इसे तुरंत रोकना चाहिए था।” नवीन ने यह भी दावा किया कि इस साल मार्च में बजट सत्र के दौरान राज्य विधानसभा में मामला उठाए जाने के बाद भी उपमुख्यमंत्री ने निर्माण कार्य की स्थिति के बारे में सदन को सूचित करने की जहमत नहीं उठाई। नवीन ने कहा कि उन्होंने (तेजस्वी ने) कभी नहीं कहा कि निर्माण कार्य रोक दिया गया है।

उन्होंने सवाल किया कि विभाग ने पिछले साल विशेषज्ञों की राय के बाद पुल बनाने में शामिल दोषी अधिकारियों या ठेकेदारों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार आरोपियों को बचाने की कोशिश कर रही है। यह महागठबंधन सरकार बिहार के विकास के बारे में कम से कम चिंतित है … ना तो मुख्यमंत्री और ना ही उपमुख्यमंत्री के पास राज्य के लिए समय है।

वर्ष 2014 से बन रहा 3.16 किलोमीटर लंबा यह पुल 14 महीने में दो बार टूटा- पहली बार अप्रैल 2022 में भागलपुर के सुल्तानगंज की तरफ और दूसरी बार रविवार की शाम खगड़िया की तरफ। घटना के तुरंत बाद उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, जिनके पास सड़क निर्माण विभाग का प्रभार भी है, ने रविवार को कहा था कि राज्य सरकार संरचनात्मक खामियों के कारण निर्माणाधीन पुल को ध्वस्त करने की योजना बना रही है।

तेजस्वी ने कहा कि था पिछले साल 30 अप्रैल को इस पुल का एक हिस्सा ढह गया था जिसके बाद इसका अध्ययन करने के लिए आईआईटी-रुड़की से संपर्क किया गया। तेजस्वी ने कहा कि इसकी अंतिम रिपोर्ट आनी बाकी है, लेकिन संरचना का अध्ययन करने वाले विशेषज्ञों ने हमें सूचित किया था कि इसमें गंभीर खामियां थीं।

तेजस्वी ने इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांग करने वाली भाजपा पर पलटवार करते हुए कहा, "पिछले साल इस पुल का एक हिस्सा आंधी में उड़ गया था, तब राज्य में भाजपा सत्ता में थी। मैंने तत्कालीन नेता प्रतिपक्ष के रूप में पूरी क्षमता से इस मुद्दे को उठाया था। सत्ता में आने पर हमने एक जांच का आदेश दिया है और विशेषज्ञ की राय मांगी है।’’

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-235, (वर्ष-06)

2. मंगलवार, जून 06, 2023

3. शक-1944, आषाढ़, कृष्ण-पक्ष, तिथि-तीज, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 05:40, सूर्यास्त: 06:45। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 24 डी.सै., अधिकतम- 37+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

स्कूली बस और ट्रक के बीच टक्कर, 2 की मौत

स्कूली बस और ट्रक के बीच टक्कर, 2 की मौत  नरेश राघानी  बाड़मेर। खेलकूद प्रतियोगिता में शामिल होने के बाद वापस लौट रही स्कूली बच्चों की बस और...