गुरुवार, 2 अप्रैल 2020

पीएम मोदी आज देश को संबोधित करेंगे

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शुक्रवार को सुबह 9 बजे देश को संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री अपने संबोधन में कोरोना और लाकडाउन के संबंध में चर्चा करेंगे। अनुमान लगाया जा रहा है कि इस चर्चा में कुछ बड़ी घोषनायें प्रधानमंत्री कर सकते है। कल सुबह नौ बजे सभी टीवी चैनलों के जरिये वो लोगों को अपना संदेश देंगे।


आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी का ये संबोधन काफी अहम हो सकता है, क्योंकि आज ही देश के सभी मुख्यमंत्रियों से लंबी बातचीत की है। इस दौरान उन्होंने लाकडाउन और जमात के लोगों के देश भर में फैल जाने को लेकर चर्चा की।


लखनऊः 27 मे से 26 की जांच नेगेटिव

लखनऊ में तबलीगी जमात से जुड़े सभी 27 में से 26 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट नि‍गेटिव


लखनऊ। देश भर में कोरोना के बढ़ते खौफ के बीच राजधानी लखनऊ से राहत भरी खबर आ रही है। राजधानी में तबलीगी जमात से जुड़े सभी 27 में से 26 की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। ये सभी लोकबन्धु अस्पताल में भर्ती हैं। इनमें से 24 विदेशी अमीनाबाद, काकोरी, औऱ आईआईएम रोड स्थित मस्जिद में रुके थे।


लखनऊ में अब तक 10 लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं।  कनाडा से गोमती नगर लौटी महिला डॉक्टर को लखनऊ में सबसे पहले कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। उन्हें 11 मार्च को केजीएमयू में भर्ती कराया गया था। इलाज के बाद उनकी तबीयत ठीक हो गई। जिसके बाद डॉक्टरों ने उन्हें डिस्चार्ज कर दिया। करीब 20 दिन बाद महिला डॉक्टर कि बुजुर्ग सास को कोरोना वायरस ने जकड़ लिया। उन्हें बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया है। 48 घंटे के भीतर उनके पति में भी कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।


अधिकारियों ने बताया कि उनके बेटे की भी जांच कराई जाएगी। लखनऊ में अब तक 10 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 6 लोगों का केजीएमयू में इलाज चल रहा है। लखीमपुर के एक मरीज का भी इलाज केजीएमयू में चल रहा है। इसके अलावा बॉलीवुड गायिका कनिका कपूर का इलाज पीजीआई में चल रहा है।


बाहर से आने वालों पर कसा शिकंजा

लोनी में बाहर से आए प्रत्येक व्यक्ति को पुलिस प्रशासन को देनी होगी सूचना
लोनी के मूल निवासी भी बाहर से लौटा है तो सूचना देना अनिवार्य
पकडे जाने पर एफआईआर दर्ज कर कडी कानूनी कार्रवाई की जाऐगी-एसडीएम खालिद अंंजुम खान
 अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। कोरोना आपदा के दौरान जनपद गाजियाबाद की लोनी तहसील अंतर्गत बाहर से आए लोगों को पुलिस-प्रशासन को अनिवार्य रुप से अपने आने की सूचना देनी होगी। अगर वह लोनी का रहने वाला है और किसी जमात अथवा दूसरे राज्य, शहर एवं गांव से लौटा है। उसके लिए भी यह शर्त अनिवार्य रुप से लागू होती है। एसडीएम खालिद अंजुम खान का कहना बाहर से आने वाले लोगों की सामान्य रुप से चिकित्सय जांच कराई जाएगी, अगर किसी में कोरोना के लक्षण मिले तो उसको उपचार के लिए क्वारंटाइन कराया जाऐगा। जिसके लिए मंडोला विहार में आवास विकास के हजारों फ्लैट अधिग्रहित किए गए है। वहां उनके खाने, रहने आदि का समुचित प्रबन्ध किया गया है।
एसडीएम खालिद अंजुम खान ने चेतावनी दी है कि अगर बाहर से आने वाले किसी भी व्यक्ति ने अपने आपको छिपाने का प्रयास किया तो उसके विरुद्ध एफआईआर दर्ज कराकर कडी कानूनी कार्रवाई की जाऐगी तथा जेल भेज दिया जाऐगा।


संस्था का गरीबों की भूख पर ध्यान

बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। इस वक्त दुनिया के कई हिस्सो में कोरोना जैसी महामारी ने अपना कहर फैला रखा है। जिसके चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन कर दिया है। अब तक भारत देश में भी कोरोना के करीब 2000 से जादा पॉजिटिव केस हैं और करीब 55 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।


लॉक डाउन के चलते रोज कमाने खाने वाले गरीबों को अपने परिवार का पेट भरने के लिए दिक्कत हो रही है। इस मुसीबत की घड़ी में पूरा देश सरकार के साथ खड़ा है और ऐसे लोगों की हर संभव मदद करने की कोशिश कर रहा है।इसी कड़ी में आज यूपी के प्रयागराज में वत्सल सेवा समिति द्वारा झलवा स्थित ट्रिपल आईटी के पास ऐसे गरीब लोग जो दूसरे राज्य सेआए हुए हो या दिहाड़ी पर काम करने वाले हो या रिक्शा चालक हो उनको राशन मुुवैैया करने का काम किया।


हापुड़ में मिला एक वायरस पॉजिटिव

अतुल त्यागी


हापुड। जनपद में कोरोनावायरस कोविड-19 का पहला पॉजिटिव मरीज मिला है। जिसके मिलने से आसपास क्षेत्र में दहशत का माहौल बना हुआ है। 71 वर्षीय संक्रमित अब्दुल्लाह थाईलैंड का रहने वाला है। वह निजामुद्दीन मरकज से तबलीगी जमात से लौटा था। थाईलैंड से आए हुए 8 साथियों के साथ हापुड़ की एक मस्जिद में रुका था। प्रशासन ने मस्जिद से 9 विदेशियों सहित 16 लोगों को बरामद किया है। सभी को आवश्यक कार्रवाई के लिए भेज दिया गया है। संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से मस्जिद के आसपास के 1 किलोमीटर का दायरा पूरी तरह सील कर दिया गया है। कोरोनावायरस को फैलने से रोकने के लिए जिलाधिकारी के द्वारा सख्त निर्देश दिए गए हैं। संबंधित मामला पिलखुवा कोतवाली स्थित हावल गांव का है। प्रशासनिक ढील के कारण संक्रमण फैल रहा है। जो आमजन के लिए चिंता का विषय है। बाकी बचे 'लॉक डाउन' का यदि सदुपयोग नहीं किया गया तो इसके बहुत सारे दुष्परिणाम जनता के सामने होंगे।


राजनीति का परिवेश 'स्वाध्याय'

देश मे जाति-धर्म आधारित छपास के मनोरोगी राजनैतिक शैतान को भारतीय राजनिति से कैसे खत्म करेः
सबसे पहले हमे यह समझना ,समझाना होगा कि देश मे जाति-धर्म,चीन-पाकिस्तान, शमशान-कब्रिस्तान, क्षेत्रवाद के नाम पर मानसिक नफरत करने वाले व्यक्ति देश-प्रदेश की राजनिति के योग्य नही होते है। ऐसे लोग केवल अवसरवादी, मोकापरस्त राजनिति करना, चुनाव को देश व देशवासियो के बुनियादी विकास सैंविधानिक सुरक्षा, सबको समान शिक्षा, चिकित्सा, रोगार आदि मानवीय विकास के असल मुददो से ध्यान हटाना है। हमारा ध्यान भटकाने का कार्य करते है। इनमे देश का राजनैतिक नेतृत्व करने की क्षमता ही नही है। ये छदम राजनैतिक एजेंंट होते है। फडिग अवसरवादी  राजनीतिक कार्यकर्ता है अपनी राजनैतिक पार्टी की राजनीतिक विचारधारा से बंधे हुए कमजोर मानसिकता  के अति महत्वकांक्षी  परतू छपास के मनोरोगी  या अखबारों की सुर्खियों व राजनेति में बने रहने के लिए मानसिक नफरत का पैदा करने के लिए मिर्च मसालेदार खबरें बनाने का प्रयास करते हैं मानवता  
मानव कल्याण सविधान सुरक्षा इनकी समझ से बाहर की बातें है नफरत के शैतान और समाज से मानसिक जहर को खत्म करने के लिए लोक कल्याण की बातें करते रहो ।
देश के विकास लोककल्याण की, सविधान सुरक्षा की बातें से देश की जनता को जागृत करते रहो ,जैसे-जैसे मानवता बढ़ेगी इंसानियत बढ़ेगी, नफरत के शैतान, राजनीति के मानसिक गुलाम खत्म हो जाऐगे।
 नफरत के गुलाम राजनीतिक शैतानो को जिंदा रहने के लिए समय समय पर धर्म, जाति आधारित जातिवाद व धर्माधतां का मीठा  जहर पैदा करने की आवश्यक होती है जब नफरत के शैतान ,राजनेतिक छपास के मनोरोगीयो को जाति धर्म छूत अछूत भेद भाव,अमीरी गरीबी ,चीन पाकिस्तान के नाम की मानसिक नफरत नहीं मिलेगी  राजनेतिक नफरत का जिंदा भी नहीं बचेगा। इनकी बातो पर ध्यान मत दो इनकी बातो पर चर्चा मत करो ।
 जब-जब ,जैसै-जैसे शिक्षा समानता 
लोककल्याण ,मानवता ,मानवकल्याण
 ,सैंविधानिक बाते भारत व भारतवासियो के की होगी यह छपास का मनोरोगी नफरत का राजनैतिक शैतान खत्म हो जायेगा।


अधिवक्ता परिवार भी हुआ प्रभावित

 


                          अकाशुं उपाध्याय गाजियाबाद।अधिवक्ताओं को भी लोक डाउन प्रभावित कर रहा है उनके साथ में काम करने वाले सहयोगियों को भी रोजमर्रा की जरूरतों में दिक्कत महसूस हो रही है। जिसके चलते  प्रशासनिक स्तर पर विधिवत निवेदन किया गया है। लोनी एडवोकेट सुरेंद्र कुमार बार अध्यक्ष के द्वारा मिली जानकारी के अनुसार लोनी तहसील/उपनिबंधक कार्यालय लोनी जिला गाजियाबाद में सैकड़ों सम्मानित अधिवक्ता साथी राजस्व न्यायालयो में न्यायिक कार्य तथा उप निबंधक कार्यालय लोनी में निबंधन/दस्तावेजो का निष्पादन कार्य का लेखक प्रमाणनं अधिकारी ,दस्तावेज लेखन आदि कानूनी तरीके से विधिक कार्य कर सरकार को करोड़ों रुपए का प्रतिदिन राजस्व, स्टांपशुल्क, रजिस्ट्रेशन शुल्क आदि की आय प्राप्ति मैं सहयोग करते है सरकार को लोनी तहसील 
उपनिबंधक कार्यालय लोनी से सम्मानित अधिवक्ताओं ,बैनामा लेखक उनके सहायक स्टांप वेंडर टाइपिंग स्टाफ, मुंशी के सहयोग से प्रतिदिन उपरोक्त करोड़ों की आय होती है परंतु सरकार द्वारा सम्मानित अधिवक्ताओं को उपरोक्त आय के बदले कोई मानदेय, चेंबर का किराया या सम्मानित अधिवक्ता व सहायकों के लिए वेतन आदि नहीं दिया जाता जाता है जबकि सम्मानित अधिवक्ताओं को राजस्व न्यायालय में कोर्टऑफिसर  माना जाता है तथा निबंधक अधिकारी के समक्ष सम्मानित अधिवक्ता दस्तावेज निष्पादन कर्ता/प्रमाणित करने वाला सहायक अधिकारी के तौर पर अवैतनिक बिना मानदेय,बिना किसी सरकारी सुविधा के उपस्थित होकर सरकार को करोडो रुपये प्रतिदिन की आदनी मे सततं सहयोग करते है जबकि लोनी तहसील /उप निबंधक कार्यालय लोनी में सम्मानित अधिवक्ताओं को राजस्व न्यायालय में अपना न्यायिक कार्य करने के लिए तथा उप निबंधक कार्यालय में दस्तावेज निष्पादन करने के लिए चेंबर /कार्यालय आदि की कोई व्यवस्था नहीं की गई है तथा 
न ही तहसील लोनी/उपनिबंधक कार्यालय के सामने खाली पार्क में अस्थाई तौर पर अधिवक्ताओ व बैनामा लेखको के बैठने,सुरक्षित कार्य करने,अपने फर्नीचर दस्तावेजी ,कंप्यूटर आदि सामान की सुरक्षा के लिए स्थाई चेंबर निर्माण की अनुमति दी है।सम्मानित अधिवक्ताओ/ बैनामा लेखको के बैठने के लिए लोनी बार एसोसिएशन रजि़  व बैनामा लेखको  ने अधिकारिक व व्यक्तिगत स्तर से भी श्रीमान उप जिलाधिकारी  महादय/  श्रीमान तहसीलदार महोदय / श्रीमान अधिशासी अधिकारी महोदय से उपरोक्त मांग की है परन्तू सम्मानित अधिवक्ता /बैनामा लेखक के पार्क मे बेठने के लिए ,अस्थायी चेम्बर निर्माण के लिए या सम्मानित अधिवक्ताओ द्वारा किराए पर लिए गए चेंबर/दुकान के किराए की कोई व्यवस्था श्रीमानजी द्वारा नही की गयी  है  मजबूरी में सम्मानित अधिवक्ता /बैनामा लेखक तहसील लोनी/उपनिबंधक कार्यालय लोनी के पास १०-१५ हजार रुपये किराए पर दुकाने लेकर चेंबर बनाकर राजस्व न्यायालय मे न्यायिककार्य व  उपनिबंधक कार्यालय लोनी में दस्तावेज निष्पादन कार्य कर रहे हैं भारत मे कोरोनावायरस के संक्रमण से बचने के लिए  सरकार द्वारा तहसील लोनी व
उपनिबंधक कार्यालय लोनी में लगभग 14 मार्च  2020 से  राजस्व न्यायालय /उपनिबंधक कार्यालय लोनी  मे न्यायिक व निबंधन कार्य अघोषित बन्द कर दिया है 22 मार्च 2020  केंद्र व प्रदेश सरकार  द्वारा  कोरोना वायरस  के संक्रमण को रोकने के लिए  पूरे देश मे लाकंडाऊन करने की घोषणा की है मा प्रधानमत्री महोदय भारत सरकार  ने लांकडाउन की घोषणा करते समय  मकान मालिकों से  किरायेदारों से दुकान/ मकान  का किराया न लेने का निवेदन सख्त आदेश सहित जारी किये है । सम्मानित अधिवक्ता /बैनामा लेखको ,स्टाफ वेंडर,टाईपिग स्टाफ सहित ने तहसील स्तर पर राजस्व न्यायालय/लोनी
उपनिबंधक कार्यालय में पूर्णतया कामबंद व अनुपस्थित रहकर  श्रीमान उप जिलाधिकारी /श्रीमान आपदा प्रबंधन अधिकारी आदि संबंधित अधिकारियों का पूरा सहयोग किया हैं श्रीमानजी लोनी तहसील /उप निबंधक कार्यालय लोनी मे न्यायिक व निबंधन कार्य करने वाले अधिकाश सम्मानित अधिवक्ता /बैनामा लेखकों की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं है दैनिक वेतन भोगी जैसी है राजस्व न्यायालय व निबंधन कार्यालय मे लांकडाउन के कारण कार्य पूर्णता बंद होने से सम्मानित अधिवक्ताओं/बैनाम लेखको, स्टांप वेंडरो, टाइपिंग स्टाफ,मुशी व उनके परिवार के सामने भरण पोषण का आर्थिक सकट उत्पन्न हो गया है तथा लाकडाऊन मे काम बदी के कारण उपरोक्त सभी आर्थिक संकटो का सामना कर रहे है ।अधिवक्ता/बैनामा लेखको के सामने चैम्बर आवटन के अभाव मे किराये पर दुकानों मे बनाये चेंबर्स का किराया अदा कर पाना आर्थिक संकट के कारण मुश्किल है बहुत कठिन है। मा प्रधान मत्री जी ने लाकडाऊन की घोषणा के साथ ही किरायेदारो से किराये न लेने के आदेशा का सुनिश्चित अनुपालन करने के आदेश दिये है।श्रीमानजी सम्मानित अधिवक्ता तहसील व उपनिबंधक कार्यालय के न्यायिक अधिकारी/सक्षम अधिकारी के रूप में  कार्य कर  शासन राजस्व प्रशासन की करोड़ों रुपए राजस्व आय मे मदद करते हैं इस रूप में सम्मानित अधिवक्ता बैनामा लेखक राजस्व न्यायालय /उपनिबंधककार्यालय मैं अवैतनिक अधिकारी के रूप में उपस्थित रहकर कार्य करते है।  श्रीमान जी सम्मानित अधिवक्ता विधिक स्नातक शिक्षा प्राप्त कर उक्परोक्त विधिक कार्य के लीए बार काउंसिल आफ उत्तर प्रदेश ,बार काउंसिल ऑफ इंडिया के सदस्य बनने के लिए निश्चित समय तक जूनियरशिप करने ,एडवोकेट पात्रता परिक्षा पास करके सीओपी व जिला न्यायालय मे निश्चित प्रक्रिया का पालन करके एडवोकेट रोल में नाम दर्ज कराने के बाद विधिक न्यायिक कार्य करते है इस नाते सम्मानित अधिवक्ता विधिक शिक्षित प्रशिक्षित अवैतनिक अधिकारी है वर्तमान राष्ट्रीय आपदा की आपात स्थिति में सम्मानित अधिवकताओ की सम्मानित तरीके से उचित आर्थिक मदद व भरण पोषण सरकार किया जाना श्रीमानजी के माध्यम से सरकार की जिम्मेदारी है ।
न्यायहित में सम्मानित अधिवक्ताओं बैनामा लेखको की उपरोक्त स्थिति को देखते हुए आर्थिकरुप से कमजोर जरुरतबंद सम्मानित अधिवक्ता व बैनामालेखको ,स्टाम्प वेंडर निजि स्टाफ की जांच कर उचित भरण पोषण की व्यवस्था की जाए  तथा  सम्मानित अधिवक्ताओं  /बैनामा लैखको को राष्ट्रीय आपदा  लाकडाऊन के जारी रहने  तक  चम्बर्स/दुकानो का किराया भवन स्वामी द्वारा न  लेने के माननीय प्रधानमंत्री के आदेशों का  अनुपालन सुनिश्चित किया जाना अति आवश्यक है।
        अतः श्रीमान से प्रार्थना है कि प्रार्थना पत्र का  संज्ञान लेकर  अविल्म्ब जरूरतमंद  आर्थिक रूप से कमजोर सम्मानित अधिवक्ताओ /बेनामलेखकों /स्टाम्प वेडरो ,निजि स्टाफ जरूरतमंद को लाकंडाऊन के दौरान उचित राहत /आर्थिक सहायता दिलाई जाए  तथा लांकडाऊन के दौरान  सम्मानित अधिवक्ताओ/बैनामा लेखको    को किराये  की दुकानों  मे बने चेम्बर्स का  किराया न लेने को  संबंधित  मकानमालिक /परिसर स्वामी /मकान स्वामी को मा प्रधानमंत्री भारत सरकार के प्रार्थना सहित जारी किये गये आदेशो का अनुपालन सुनिश्चित कराने की कृपा करें ।आपकी अति कृपा होगी।
  


राशन वितरण मे दिखा 'सोशल डिस्टेंसिंग'

अतुल त्यागी जिला प्रभारी


राशन की दुकानों पर नही हो रहा शौशल डिसटेंन्स का पालन


हापुड। नगरपालिका क्षेत्र में रासन की दुकानों पर शोशल डिसटेंन्स का पालन नही हो रहा है और ना ही सैनिटाइजर की व्यवस्था है और ना ही  साबुन की व्यवस्था है। जानकारी के अनुसार किला कोना स्थित सतीस कुमार सैनी की दुकान पर पहुंचे वहां शोशल डिसटेंन्स का पालन किया जा रहा था फिर हम तगा सराय स्थित रोहताश कुमार की रासन की दुकान पर पहुंचे वहां ना तो सैनिटाइजर की व्यवस्था है।


और ना ही साबुन की ब्यवस्था है और शाशन आदेश यह भी है की रासन की दुकान सुबह 7 बजे से 10 बजे तक खोली जानी चाहिए लेकिन आम जनता का कहना है की सुबह सात बजे से दुकान नही खुल रही है भंडापट्टी में रासन की दुकान जो मौहम्मद अनीस है वहां साबुन की व्यवस्था तो थी लेकिन सैनिटाइजर की व्यवस्था नही थी और ना ही मौहम्मद अनीस की रासन की दुकान पर शौशल डिस्टेंस का पालन किया जा रहा था भीडभाड भी अत्यधिक हो रही थी वहां बिल्कुल भी जनता किसी चीज का पालन नही कर रही थी और ना ही रासन डीलर उनसे कुछ कह रहा था जबकि शाशन आदेश यह है की एक एक मीटर पर गोले बनाये जाये तब रासन वितरण किया जाये रासन डीलर मौहम्मद अनीस शाशन आदेश का ना तो खुद पालन कर रहा था और ना ही जनता को इस बिषय में कुछ जानकारी दे रहा था न्वजयोति कालोनी स्थित रासन की दुकान पर शौशल डिसटेंन्स का पालन किया जा रहऔर सभी को करवाना भी है आज अभी दो दिन हुए है अभी तो रासन वितरण शुरू हुआ हैऔर जनता को रासन लेने की जल्दी से जल्दी मची हुई है कई रासन की दुकानों पर रासन लेने वाले लोगों ने बताया की हमें पूरा रासन नही दिया जा रहा हमें दो किलो रासन कम दिया जा रहा है जब कम रासन देने के बिषय में हमने प्रिति रानी इंस्पेक्टर से बात की उन्होंने बताया की कहीं पर भी कम रासन देने की शिकायत नही आ रही है अगर कहीं से कोई ऐसी शिकायत आती है तो रासन डीलर के खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जाऐगी।


हापुड़ में डीएसओ का तेज निरीक्षण

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, रिंकू सैनी रिपोर्टर हापुड़, प्रवीण कुमार रिपोर्टर पिलखुआ


ई-पॉश मशीन द्वारा पंजीकृत मजदूरों की जो संख्या रीड की जा रही है उसी के अनुसार खाद्यान्न वितरण किया जाए


हापुड। जिलाधिकारी अदिति सिंह के कुशल नेतृत्व में कोरोना वायरस संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए जनपद में उचित दर विक्रेताओं द्वारा अंत्योदय, मनरेगा जॉब कार्डधारक, श्रम विभाग में पंजीकृत, निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों तथा नगर निकायों में पंजीकृत दिहाड़ी मजदूरों को नि:शुल्क तथा अन्य पात्र गृहस्थी कार्ड धारकों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने के उद्देश्य से जिला पूर्ति अधिकारी द्वारा क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी के साथ संतोष देवी मोहल्ला भीम नगर का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान पाया कि सोशल डिस्टेंसिंग के लिए गोले/घेरे बनाए गए थे तथा सैनिटाइजर की व्यवस्था दुकान  पर उपलब्ध थी। निरीक्षण के समय दुकान पर लगभग 50-60 लोगों की भीड़ पाई गई जिसे पुलिस की सहायता से समझा-बुझाकर घर भेजा गया तथा शेष लाभार्थियों को गोले में खड़ा कराया गया एवं टोकन वितरण किये। इसके उपरांत मैसर्स इंद्रो देवी मोहल्ला नव ज्योति कॉलोनी में भी सोशल डिस्टेंसिंग का प्रयोग कराते हुए लोगों को टोकन बांटे गए। इसी क्रम में मैसर्स देवेंद्र कुमार सुभाष नगर की दुकान पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाना पाया गया तथा दुकान पर पानी से भरी बाल्टी व साबुन रखा पाया गया। दुकान पर राशन लेने वाले सभी लोग सोशल डिस्टेंसिंग का प्रयोग करते हुए पाए गए तथा राशन डीलर विक्रेताओं को पूर्ण मात्रा में खाद्यान्न दिए जाने के निर्देश दिए गए। उक्त के अतिरिक्त जिला पूर्ति अधिकारी द्वारा अनिल कुमार मोहल्ला शिवनगर, मै0प्रवीन त्यागी मोहल्ला आवास विकास, पूरनमल आनंद नगर हापुड़, उमाशंकर नगर हापुड़ का निरीक्षण किया गया। वहां पर राशन वितरण के समय व्यवस्था संतोषजनक पाई गई। इसी क्रम में कार्रवाई करते हुए अतिरिक्त क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी हापुड व विधिक बाट माप निरीक्षक के साथ मैसर्स राजेंद्र पाल अशोकनगर, महेश चंद पन्नापुरी, गिरीश त्यागी भगवानपुरी का निरीक्षण किया गया। मै0 महेश चंद के यहां विधिक बाट-माप का प्रमाण पत्र उपलब्ध न होने से विधिक बाट माप निरीक्षक द्वारा मौके पर जुर्माना वसूली चालान काटा गया साथ ही ग्रामीण क्षेत्र की ग्राम सभा सिमरोली, मुरादपुर पटना स्थित उचित दर की दुकानों को देखा गया। कही-कही पर मशीन रुक रुक कर चलने की समस्या उचित दर विक्रेताओं द्वारा बताई गई। जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि इस समय सर्वर लोड बढ़ने के कारण समस्या उत्पन्न हो रही है जोकि धीरे-धीरे सामान्य हो जाएगी। पूर्ति निरीक्षक नगर हापुड द्वारा विमलेश देवी आदर्श नगर,राजरानी चमरी, डिपो 4 चमरी, संतोष कुमार लज्जापुरी, संजय शर्मा गांधी बिहार इत्यादि दुकानों का निरीक्षण किया गया। मै0 राजरानी चमरी के यहां कार्ड धारकों की भीड़ अधिक होने के कारण सोशल डिस्टेंसिंग के अनुपालन में पुलिस बल बुलाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया गया। शेष दुकानों में स्थिति सामान्य पाई गई। खाद्य पूर्ति निरीक्षक धौलाना के द्वारा निरीक्षण करते हुए सीसीएस तृतीय मोहल्ला मंडी स्थित उचित दर की दुकान में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन होना पाया गया तथा सैनिटाइजर की व्यवस्था पाई गई। गोल घेरे बने हुए पाये गए।विक्रेताओं को निर्देश दिए गए कि कार्डधारकों को नियमित मात्रा व मूल्य पर खाद्यान्न का वितरण करें। इसी क्रम में निरीक्षण करते हुए पूर्ति निरीक्षक गढ़मुक्तेश्वर द्वारा मैसर्स मोना सिंह, राकेश त्यागी, महेश चंद शर्मा, सुरेश चंद्र शर्मा, विमला देवी के यहां कार्ड धारक सोशल डिस्टेंसिंग में बने गोले/ घेरे में खड़े होकर राशन लेना पाया गया तथा उचित दर विक्रेताओं के यहां पानी,साबुन व सैनिटाइजर रखा पाया गया। जिला पूर्ति अधिकारी द्वारा उचित दर विक्रेताओं को निर्देश दिए गए कि निर्माण कार्य में लगे श्रमिकों की जो पंजीयन संख्या ई-पॉश मशीन द्वारा रीड की जा रही है उसी के अनुसार खाद्यान्न का वितरण कराना सुनिश्चित करें, साथ ही निर्धारित मात्रा व मूल्य पर कार्ड धारक को खाद्यान्न उपलब्ध कराना सुनिश्चित किया जाये। यह जानकारी जिला पूर्ति अधिकारी राजेश कुमार द्वारा दी गई है।


आयुर्वेद से बढ़ाएं रोग अवरोधक शक्ति

कोशाम्बी। आयुर्वेद के जनक कहे जाने वाले वैद्यराज चरक सुश्रुत ने आयुर्वेद के गुणों के बारे में जो जानकारियां समाज को दिया था उसमें संजीवनी बूटी जैसी महान औषधियों का  जिक्र किया था जो मरे ब्यक्ति को भी जिंदा कर देती थी। दूषित खून को शुद्ध करने संक्रमण को समूल नष्ट करने की शक्ति नीम गिलोय में मौजूद है। प्राचीन काल में भारत देश में आयुर्वेद के तमाम विख्यात वैद्य वैद्यराज के ज्ञान को अर्जित कर लोगों तक पहुंचाने की जरूरत है प्राचीन काल में आयुर्वेद पद्धति से भारतीय स्वस्थ्य रह कर हजारो वर्ष जीते थे देश की आयुर्वेद पद्धति को बढ़ाने के बजाय सरकारी तंत्र इस भारतीय खजाने को भूलता जा रहा है, जो  देश के लिए बड़ा चिंतन का विषय है।


आज भी देश की धरती पर तमाम ऐसी जड़ी बूटी है जो समाज में लोगों को स्वस्थ निरोगी रखने में कारगर हैं तुलसी, नीम, गिलोय, दूब, घास, पीपल,  अपराजिता, बरगद, गाय का गोबर, काली मिर्च, हरड़ जीरा बहेरा आंवला चिरायता  मकोय तेजपत्ता जायफल जावित्री  अफीम कलौंजी मुलेठी अपराजिता भांग सतावर हल्दी चोपचीनी शहद वंश लोचन मन्दार केशर कस्तूरी अकरकरा मयूर का अंडा चिचड़ी अपामार्ग पिपरमिंट सनाय मेथी दाना हड़जोड़ सहित तमाम महत्वपूर्ण आयुर्वेद औषधियों से भारत देश की यह धरती भरी पड़ी है। प्राचीन काल में आयुर्वेद में भारत विश्व गुरु था लेकिन चार सौ वर्ष पूर्ब लगभग विदेशी पद्धति के चकाचौंध में हम अपनी चिकित्सा पद्धति को भूल चुके हैं। जिससे हमारी चिकित्सा पद्धति का ज्ञान लुप्त होता जा रहा है।लेकिन इन जड़ी-बूटियों का ज्ञान सीमित लोगो तक है और सीमित क्षेत्र के लोग ही इसका लाभ उठाते हैं और अन्य लोग जड़ी बूटियों के ज्ञान लाभ से उपेक्षित हैं। समाज के लोगों में आयुर्वेद का ज्ञान पहुंचाने की बेहद जरूरत है आयुर्वेद के महत्व की जानकारी लोगों तक पहुंचे इसके लिए सरकार को सार्थक प्रयास करने की जरूरत है आम जनता को आयुर्वेद के प्रति प्रेरित कर उन्हें आयुर्वेद के प्रति प्रोत्साहित करना यह सरकार का दायित्व है आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति की शुरुआत की जाए यह कम खर्चीली है और इस पद्धति से गरीबों का भी सस्ता और सुलभ इलाज आसानी से हो सकता है। एलोपैथी के आगे पुरानी आयुर्वेद पद्धति को लोग भूलते जा रहे हैं जबकि आयुर्वेद पद्धति के बारे में कुछ लोगों को ही विशेष जानकारियां हैं इस पद्धति की खोज कराई जानी चाहिए और गांव क्षेत्र में जिन लोगों को आयुर्वेद की जानकारी है उन्हें प्रोत्साहित कर आगे बढ़ने का मौका दिया जाना चाहिए लेकिन किताबी डिग्री के आगे आयुर्वेद का ज्ञान रखने वालों को सरकार और उनके नुमाइन्दे महत्व नही देते जो चिन्ता का विषय है आयुर्वेद पद्धति की औषधियों से तो कोरोनावायरस से भी भयंकर वायरस को नष्ट करना सम्भव है कोरोना जैसे महामारी से नीम तुलसी गिलोय जैसी आयुर्वेद औषधि से इलाज कर महामारी से बचा जा सकता है। आने वाली पीढ़ी को आयुर्वेद के बारे में भरपूर जानकारी हो जिससे वह विदेशी वैक्सीन का सहारा देश वासियों को ना लेना पड़े हमारे भारत देश की आयुर्वेद चिकित्सा सफल चिकित्सा में रही है लेकिन हम आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को भूल गए तो भविष्य में आने वाली पीढ़ी को खतरनाक महामारी से कैसे बचाया जा सकता है।


इंदौर में 2 की मौत, मृतकों की संख्या 8

इंदौर। शहर में कोरोना वायरस से एक ही दिन में दो मौत हो गई। इंदौर के एमआर टीबी अस्पताल में एक 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला ने दम तोड़ दिया वहीं एमवाय अस्पताल में भर्ती 54 वर्षीय मरीज की भी मौत हो गई। इंदौर में कोरोना से मौत का आंकड़ा 5 और प्रदेश में बढ़कर 8 हो गया है। इस बात की पुष्टि एमजीएम मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों ने की है। महिला को शहर के खजराना क्षेत्र से लाकर एमआर टीबी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था।


वहीं एमवाय अस्पताल में भर्ती मरीज मोती तबेला क्षेत्र का रहने वाला है, जिसकी पॉजिटिव होने की रिपोर्ट गुरुवार सुबह मिली। एक दिन पहले ही मेडिकल कॉलेज ने बुलेटिन जारी कर तीन लोगों के गंभीर होने की जानकारी भी दी थी। सीएमएचओ डॉ प्रवीण जड़िया के अनुसार जो लोग पॉजिटिव मिल रहे हैं, उनमें से कई लोग पहले से ही भर्ती हैं जिससे इनके कम्युनिटी में संक्रमण फैलाने के संभावना कम होगी। इंदौर में कोरोना पॉजिटिव पहले मरीज सिलावटपुरा निवासी 65 वर्ष व्यक्ति की मौत 25 मार्च को हुई थी। उसके बाद 30 को राजकुमार कॉलोनी निवासी 41 वर्ष के व्यक्ति की मौत हुई थी। 30 मार्च को धार रोड निवासी 49 वर्ष महिला की मौत हो चुकी है। बुधवार देर रात इंदौर में 12 नए कोरोना पॉजिटिव केस मिले थे और इसके मरीजों की संख्या बढ़कर 75 पहुंच गई है। कल जो पॉजिटिव केस सामने आए हैं उनमें से 8 मरीजों की हालत गंभीर बताई जा रही है। शहर में लगातार बढ़ रहे कोरोना पॉजिटिव की संख्या के बाद से टोटल लॉक डाउन किया गया है। इंदौर में मेडिकल टीम पर हुए पथराव में पांच गिरफ्तार:- इंदौर के टाटपट्टी बाखल में बुधवार को जांच करने गई मेडिकल टीम पर हुए पथराव के मामले में पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। कोरोना वायरस की जांच करने टीम जब पहुंची तो इलाके के लोग इसका विरोध करने लगे थे और फिर उन्होंने डॉक्टरों के ऊपर पत्थर फेंकना शुरू कर दिए थे, डॉक्टरों ने भागकर अपनी जान बचाई। महामारी का जायजा लेने आएगा केंद्रीय दल:- इंदौर में बढ़ते कोरोना मरीजों को लेकर केंद्रीय स्तर पर भी चिंता बढ़ती जा रही है। गुरुवार को नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) की टीम इंदौर पहुंचेगी जो यहां कोरोना पॉजिटिव मरीजों को दिए जाने वाले इलाज के साथ ही व्यवस्थाओं का जायजा भी लेगी। सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि टीम के पहुंचने के बाद ही अन्य जानकारियां मिल सकेंगी। वहीं एम्स भोपाल से भी टीम आएगी जो क्वारंटाइन और आइसोलेशन सेंटर की जानकारी लेगी। साथ ही डॉक्टर्स और स्टाफ को लेकर भी जानकारी जुटाई जाएगी। इंदौर में स्थिति को देखते हुए एपिडिमायोलॉजिस्ट की नियुक्ति भी हो गई है।


पाक में 26 की मौत, 2112 संक्रमित

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बुधवार को 2112 पहुंच गई इससे पता चलता है कि संक्रमण को रोकने के लिए सरकार के तमाम प्रयासों के बावजूद मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है।
इस बीच, प्रधानमंत्री इमरान खान ने बुधवार को डॉक्टरों और नर्सों को आश्वासन दिया कि उन्हें कोरोना वायरस से निपटने के लिए जरूरी सुरक्षात्मक उपकरण मुहैया कराये जाएंगे. चिकित्सा कर्मियों के लिए आवश्यक चीजों की कमी होने की खबरों के बीच प्रधानमंत्री का आश्वासन आया है। उन्होंने रावलपिंडी में कैंटोनमेंट जनरल हॉस्पिटल के उन्नयन कार्य का उद्घाटन करने के बाद कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में सबसे आगे डॉक्टर, नर्स और अन्य चिकित्सा कर्मी हैं और उन्हें उनकी सुरक्षा तथा सेहत के लिए जरूरी सुरक्षा उपकरण प्रदान किये जाएंगे।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा मंत्रालय के मुताबिक पंजाब प्रांत से 748 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने का पता चला है. वहीं सिंध में 709, खैबर पख्तूनख्वा में 253, बलूचिस्तान में 158, गिलगित बाल्तिस्तान में 184, इस्लामाबाद में 54 और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में छह मामले सामने आए हैं। मंत्रालय ने बताया कि अबतक कोरोना वायरस से 26 लोगों की मौत हुई है जबकि 82 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं।10 लोगों की हालत नाजुक है।संक्रमित लोगों की बढ़ती संख्या से स्पष्ट संकेत मिल रहा है कि आंशिक बंदी सहित तमाम उपाय वायरस को फैलने से रोकने में अपर्याप्त साबित हो रहे हैं।
पाकिस्तान के अधिकारी संक्रमण को फैलने से रोकने में मुश्किल का सामना कर रहे हैं और लोगों से आपात स्थिति को छोड़ घरों में ही रहने की अपील कर रहे हैं लेकिन कई शहरों में इसका बहुत कम असर देखने को मिल रहा है। लोग सड़कों पर घूम रहें हैं और अधिकारी उन्हें घरों में रहने के लिए मनाने की कोशिश कर रहे हैं।
प्रधानमंत्री इमरान खान कोरोना वायरस के चलते अर्थव्यव्स्था के समक्ष उत्पन्न चुनौती से निपटने के लिए 1,200 अरब पाकिस्तानी रुपये के पैकेज की घोषणा कर चुके हैं।


टीके का जानवरों पर परीक्षण प्रारंभ

सिडनी। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के वैक्सीन पर तेज़ी से काम चल रहा है। लेकिन ऑस्ट्रेलिया के कॉमनवेल्थ साइंटिफ़िक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च ऑर्गेनाइज़ेशन (सीएसआईआरओ) का कहना है कि यह परीक्षण पहला पूरी तरह से जानवरों पर आज़माया गया प्री-क्लिनिकल ट्रायल होगा।


शोधकर्ताओं ने कहा है कि पूरी दुनिया से मिलने वाला सहयोग शानदार है जिसकी वजह से इस चरण तक हम इतनी तेज़ी से पहुँच पाए हैं। सीएसआईआरओ के डॉक्टर रॉब ग्रेनफ़ेल का कहना है, "आमतौर पर इस स्टेज तक पहुँचने में एक से दो साल तक का वक़्त लगता है। लेकिन हम सिर्फ़ दो महीने में यहां तक पहुँच गए हैं। कैसे काम करता है ये वैक्सीन:- पिछले कुछ दिनों में सीएसआईआरओ की टीम ने इस वैक्सीन को गंधबिलाव (नेवले की जाति का एक जानवर) पर टेस्ट किया है। यह साबित हो चुका है कि गंधबिलाव में इंसानों की तरह ही कोरोना वायरस का संक्रमण होता है।
वास्तव में सार्स कोवि-2 वायरस कोरोना संक्रमण के लिए ज़िम्मेवार होता है। पूरी दुनिया में कम से कम 20 वैक्सीन पर अभी काम चल रहा है। सीएसआईआरओ की टीम दो वैक्सीन पर काम कर रही है।
पहला वेक्टर वैक्सीन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की ओर से विकसित किया गया है।  इसमें कोरोना वायरस के प्रोटीन को इम्युन सिस्टम में डालने के लिए 'डिफ़ेक्टिव' वायरस का इस्तेमाल किया जाता है और फिर इससे होने वाले प्रभावों परीक्षण किया जाता है। विक्टोरिया में ऑस्ट्रेलियन एनीमल हेल्थ लैबोरेट्री के प्रोफ़ेसर ट्रेवर ड्रु बताते हैं कि इम्युन सिस्टम में डाला गया वायरस अपनी प्रतिलिपि नहीं तैयार करता। इसलिए इस वैक्सीन से बीमार पड़ने की संभावना नहीं है। वो दूसरे वैक्सीन के बारे में भी बताते हैं जो अमरीकी कंपनी इनोविओ फर्मास्युटिकल्स ने तैयार किया है। यह वैक्सीन थोड़ा अलग तरीके से काम करता है। यह इस तरह से तैयार किया गया है कि यह इम्युन सिस्टम में कोरोना वायरस के कुछ प्रोटीन को इनकोड करता है और फिर शरीर की कोशिकाओं को उन प्रोटीन को पैदा करने के लिए उत्प्रेरित करता है। यह कई पहलुओं से बहुत अहम हैं और इसके सफल होने की बहुत हद तक गुंजाइश बनती है। कब तक हमें इसके नतीजे मिल सकते हैं:- वैज्ञानिकों का कहना है कि जानवरों पर होने वाले परीक्षण के नतीजे जून की शुरुआत में आ सकते हैं। अगर नतीजे सही आते हैं तो वैक्सीन को क्लीनिकल परीक्षण के लिए भेजा जा सकता है। इसके बाद से मार्केट में इसके आने की प्रक्रिया तेज़ हो सकती है लेकिन विशेषज्ञ चेताते हैं कि कम से कम 18 महीने का वक़्त इसके बाद भी दूसरी प्रक्रियाओं में लग सकते हैं।


संवेदनशीलताः बच्चों ने दान की गुल्लक

बच्चे ने कोरोना से लड़ने वाले योद्धाओं के मास्क के लिये दान की गुल्लक


बहरोड़। मंथन फॉउंडेशन टीम द्वारा कोरोना से लड़ रहे योद्धाओं के लिए घर पर मास्क तैयार किये जा रहे हैं। इसी क्रम में 200 मास्क पुलिस प्रशासन को सौंपे गए। संस्था की डॉ0 सविता गोस्वमी ने बताया थानाधिकारी जितेंद्र सिंह सोलंकी के निर्देशानुसार पुलिसकर्मियों की सुरक्षा को सर्वोपरि मानते हुए मंथन फॉउंडेशन द्वारा पुलिसकर्मियों को 200 रेयूजेबल मास्क उपलब्ध कराए गए।  संस्था द्वारा अभी तक करीब 600 मास्क विभिन्न सामाजिक संस्थाओं, स्वयंसेवकों एवं प्रशासनिक सेवाकर्मियों को दिए जा चुके हैं।
वहीं  संस्था द्वारा चलाये जा रहे अभियान कोरोना वर्सेज ह्यूमैनिटी में कुछ महिलाएं घर पर मास्क बनाकर अपनी सेवाएं दे रही हैं वहीं दूसरी और आज एक 10 वर्ष के बच्चे हर्षित ने इस पुण्य कार्य के लिए अपनी गुल्लक फाउंडेशन को दान दी। उसने कहा कि  छोटी सी बचत को वो उन लोगों तक पहुंचाना चाहता जो कोरोना के खिलाफ इस जंग में दिन रात लगे हैं।


हरियाणाः 63 उप निरीक्षको का प्रमोशन

राणा ओबराय

हरियाणा सरकार ने पुलिस विभाग के 63 सब-इंस्पेक्टरों को तरक्की देकर बनाया इंस्पेक्टर


चंडीगढ़। हरियाणा पुलिस द्वारा पुलिस बल के 63 सब-इंस्पेक्टरों (एसआई) को तुरंत प्रभाव से इंस्पेक्टर के पद पर पदोन्नत किया गया है। हरियाणा पुलिस के प्रवक्ता ने जानकारी देते हुए बताया कि पदौन्नति पाने वालों में जिला पुलिस और हरियाणा सशस्त्र पुलिस (एचएपी) के 38 एसआई, भारतीय रिजर्व बटालियन (आईआरबी) के 17, स्टेट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो तथा टेलीकॉम विंग में कार्यरत चार-चार सब-इंस्पेक्टर शामिल हैं। जिला पुलिस और एचएपी में तरक्की पाने वालों में 29 पुरुष व 9 महिला एसआई शामिल हैं।


डीजीपी ने दी बधाई। इस बीच, पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) हरियाणा, श्री मनोज यादव ने पदौन्नति पाने वालों को बधाई देते हुए कहा कि इससे जनता की सेवा में कार्यरत इन पुलिस अधिकारियों का मनोबल और अधिक बढ़ेगा। उन्होंने वर्तमान स्थिति में सेवा, सुरक्षा और सहयोग की भावना से मानवता की सेवा करते हुए प्रदेश में लाकॅडाउन को दृढ़ता के साथ लागू करने के लिए हरियाणा पुलिस के सभी अधिकारियों व जवानों को भी बधाई दी।


सपा को जरूरतमंदों तक पहुंचना है

सोशल डिस्टेन्स को मेनटेन रखते हुए समाजवादी पार्टी के लोग ज़रुरतमन्दों में बाँट रहे राशन


बृजेश केसरवानी


प्रयागराज। शहर पश्चिमी क्षेत्र में इलाहाबाद विश्वविद्धालय की पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष शहर पश्चिमी की पूर्व प्रत्याशी व प्रदेश प्रवक्ता रिचा सिंह ने कदिलापुर, झलवा में ग्राम प्रधान दिवाकर के साथ ज़रुरतमन्दों को आँटा, दाल, चावल आदि राशन के सामान वित्तरित किए। इसी प्रकार छोटा बघाड़ा में विधानपरिषद सदस्य बासूदेव यादव के सहयोग से ग़रीबों ,रिक्शा चालकों व लॉज में फंसे छात्र-छात्राओं के लिए पार्षद नितिन यादव के संरक्षण में पके भोजन का वित्रण किया जा रहा है। कीडगंज में सपा महिला सभा की नगर अध्यक्ष मंजू यादव,छात्र सभा दक्षिणी के उपाध्यक्ष शुभम गुप्ता,शाहगंज नखास कोहना में बलवन्त यादव,ममफोर्डगंज में रविन्द्र यादव,तेलियरगंज में रोहित यादव,दरियाबाद में शबी हसन,करैली में महानगर अध्यक्ष सै०इफ्तेखार.हुसैन,धूमनगंज में नौशाद सिद्दीक़ी,जॉन्टी यादव,मुशीर अहमद,मक़सूद अहमद,यथांश केसरवानी,दायरा शाह अजमल में सै०मो०अस्करी,पार्षद अनीस अहमद,समदाबाद रानीमण्डी में शाहिद प्रधान,करैली,लकड़मण्डी,अकबरपुर में पार्षद अब्दुल समद आदि समाजवादी साथियों द्वारा लगातार लॉक डाऊन के कारण राशन और खाद्ध सामाग्री न मिलने और ग़रीब बेसहारा,मज़दूर रिक्शा चालक,भीख मांग कर गुज़ारा करने वालों की मदद की जा रही है।नैनी में करछना विधायक उज्जवल रमण सिंह के निर्दैशन मे तमाम समाजवादी साथी ज़रुरतमन्दों के घर पर पहोँच कर राशन व पके खाने के पैकेट बाँट रहे हैं।समाजवादी पार्टी के महानगर मीडिया प्रभारी सै०मो०अस्करी ने समाचार पत्रों के माध्यम से लोगों से अपील की है की लोग अपने घरों में रहें सरकार व डब्ल्यू एच ओ के निर्देशों का पालन करें।जिन लोगों को राशन न मिला हो वह अपने अपने क्षेत्र के समाजवादी पार्टी के पदाधिकारीयों व कार्यकर्ताओं से संपर्क करे।राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के आह्वाहन पर प्रत्येक मोहल्लों में समाजवादी पार्टी की ओर से ज़रुरतमन्दों की मदद की जा रही हैं और आगे भी होगी।


घातक हो सकते हैं लापरवाही के अंजाम

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर पिलखुआ


हापुड़। एक तरफ जहां पूरा प्रशासन लोगों को दूरी बनाए रखने के लिए और घर से बाहर ना निकलने के लिए अपील कर रहा है, लेकिन वही कुछ राशन डीलर प्रशासन और मुख्यमंत्री के आदेशों की धज्जियां उड़ाते दिखाई दे रहे हैं। राशन डीलर प्रताप सिंह की दुकान पर बिना मास्क लगाए लगी राशन लेने के लिए भीड़।


सभी राशन डीलरों को दूरी बनाए रखने के लिए 1 मीटर की दूरी पर गोले बनाए गए हैं, लेकिन यहां कुछ और ही नजर आ रहा है काफी संख्या में भीड़ एकत्रित होकर राशन डीलर के यहां ऐसे खड़ी है जैसे लॉक डाउन ही नहीं हो। काफी संख्या में एकत्रित होकर राशन लेने पहुंचे महिला पुरुष और बच्चे ज्यादातर बिना मास्क लगाए ही दिखाई दे रहे हैं। सैनिटाइजर का भी इस्तेमाल करते हुए राशन डीलर नहीं दिखाई दे रहे हैं। राशन डीलर के चारों तरफ एकत्रित होकर खड़ी है। भीड़ स्थानीय अधिकारियों का नहीं ध्यान लोगों ने किया थाना इंचार्ज को फोन धौलाना थाना क्षेत्र के गांव समाना का मामला।


घुमंतू गोवंश के लिए चारा सेवा कार्य

बागपत/बड़ौत। कल्याण भारती सेवा संस्थान के कार्यकर्ताओं ने लॉक डाउन के नियमों का पालन करते हुये सुबह 7 से सुबह 9 बजे तक बड़ौत नगर में आवश्यक जगहों पर बेसहारा गोवंश हेतु चारा सेवा का आयोजन निरन्तर जारी। संस्थान के कार्यालय आजाद नगर बड़ौत पर संस्थान के प्रबंध निदेशक गोपी चन्द सैनी के द्वारा आपात की स्थिति से पीड़ित परिवारों को खाद्य सामग्री वितरित की गयीं।


साथियों इंसान आपात की स्थिति में अपने भरण-पोषण की व्यवस्था, अन्य व्यवस्थाओं से करने में सक्षम है। परन्तु ऐसे में बेसहारा पशुओं की स्थिति अत्यन्त दयनिय हो जाती है। क्योंकि अपनी समस्याओं में घिरा व्यक्ति आपतकाल के समय में अधिकतर सिर्फ अपने तक ही सीमित होता है। अतः समाज के सक्षम और बुद्धिजीवियों से विनम्र निवेदन है कि कृपया अपनी भूख के साथ-साथ बेसहारा जीवों की भूख के विषय पर भी ध्यान देना चाहिये। क्योंकि वह समाज के द्वारा ही  बेसहारा हुये हैं, और समाज पर ही आश्रित है। 


गोपीचंद


43082 की मौत, 865970 संक्रमित

पेरिस। दुनिया भर में कोरोना वायरस संक्रमण से भारतीय समयानुसार बुधवार शाम साढ़े चार बजे तक 43,082 लोगों के मरने की आधिकारिक रूप से पुष्टि हुई है। एएफपी ने आधिकारिक सूत्रों से यह आंकड़े जुटाए हैं। चीन में दिसंबर में आए पहले मामले के बाद से अभी तक 186 देशों और क्षेत्रों में 865970 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।


इनमें से कम से कम 172500 लोगों के संक्रमण मुक्त होने की सूचना है। एएफपी के कार्यालयों ने राष्ट्रीय प्राधिकारों और विश्व स्वास्थ्य संगठन से आंकड़े एकत्र किए हैं, लेकिन संभवत: यह संक्रमित लोगों की वास्तविक संख्या का एक हिस्सा भर ही है। कई देशों में सिर्फ उन मामलों की जांच की जा रही है जिनमें अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत है।इटली में मरने वालों की संख्या 12428 हुईः इटली में कोरोना वायरस संक्रमण से मौत का पहला मामला फरवरी के अंत में आया था, लेकिन अब वहां संक्रमण से मरने वालों की संख्या 12428 हो गई हैं। देश में 105792 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है और अभी तक 15729 लोग संक्रमण मुक्त हुए हैं। स्पेन में 9053 लोगों की मौत इस वायरस संक्रमण से हुई है, जबकि 102136 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। हॉन्गकॉन्ग और मकाउ से इतर चीन में अभी तक 3312 लोगों के मरने और 81554 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। वहां 76238 लोग संक्रमण मुक्त हुए हैं। मंगलवार से अभी तक देश में संक्रमण के 36 नए मामले आए हैं और सात लोगों की मौत हुई है। अमेरिका में सबसे ज्यादा लोग कोरोना से पॉजिटिवः फ्रांस में अभी तक 3523 लोगों की संक्रमण से मौत हुई है जबकि 52128 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।अमेरिका में सबसे ज्यादा 189633 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। देश में वायरस संक्रमण से अभी तक 4081 लोगों की मौत हुई है जबकि 7138 लोगों के संक्रमण से उबरने की सूचना है।


संक्रमण संख्या 2000, सैकड़ों आइसोलेट

नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है।भारत में भी संक्रमित लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है।रात के करीब 11 बजे तक के आंकड़ों के मुताबिक, अब तक 2012 लोग COVID-19 से संक्रमित पाए गए हैं और इनमें से 41 लोगों की मौत हुई है। 169 लोग ठीक हुए हैं।यहां बता दें कि आज देश में कोविड 19 के 377 मामले सामने आए हैं। आज ये पहली बार हुआ है जब देश में कोरोना के मामले इतनी तेजी से बढ़े हैं। अकेले तमिलनाडु में पिछले कुछ घंटो में 110 मामले सामने आए हैं।


राज्यों के आंकड़ेः महाराष्ट्र में सबसे अधिक 335 मामलों की पुष्टि हुई है। केरल में 265, तमिलनाडु में 234, दिल्ली में 152, उत्तर प्रदेश में 116, कर्नाटक में 110, राजस्थान में 108, तेलंगाना में 97, आंध्र प्रदेश में 87, गुजरात में 87, मध्य प्रदेश में 86, जम्मू-कश्मीर में 62, पंजाब में 46, हरियाणा में 43, पश्चिम बंगाल में 37, बिहार में 24, चंडीगढ़ में 15, असम में 13, लद्दाख में 13, अंडमान-निकोबार में 10, छत्तीसगढ़ में 9, उत्तराखंड में 7, गोवा में 5, ओडिशा में 4, हिमाचल प्रदेश में 3, पुडुचेरी में 3, झारखंड, मणिपुर और मिजोरम में एक-एक लोग COVID-19 से संक्रमित पाए गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि कोविड-19 के मामलों में वृद्धि राष्ट्रीय स्तर पर संक्रमण फैलने की दर नहीं दर्शाती है, लेकिन इस बढ़ोतरी में निजामुद्दीन (पश्चिम) में हुआ एक आयोजन प्रमुख वजह रहा। बता दें कि दिल्ली स्थित निजामुद्दीन इलाके में एक से 15 मार्च तक हुये तब्लीगी जमात के एक आयोजन में हिस्सा लेने वालों में से कई लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने नियमित संवाददाता सम्मेलन में बताया कि लॉकडाउन के पालन में विफलता के फलस्वरूप संक्रमण के मामलों में इजाफा होना तय है। इसके मद्देनजर उन्होंने देशवासियों से 21 दिन के लॉकडाउन का हर हाल में पालन करने की अपील की।
उन्होंने कहा कि राज्यों से संक्रमित पाए गए लोगों के संपर्क में आने वालों की पहचान कर उन सभी को परीक्षण प्रक्रिया में शामिल करने को कहा गया है। साथ ही राज्यों को संक्रमित लोगों के संपर्क में आये व्यक्तियों की जांच सुनिश्चित करने के लिये गहन अभियान चलाने और संक्रमण की रोकथाम के लिये तय की गयी रणनीति पर सजगता से काम करने का निर्देश दिया गया है। दुनिया के देश की बात करें तो अब तक 9 लाख से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं और 45 हजार से अधिक लोगों की मौत हुई है। 190,660 लोग ठीक हुए हैं।अमेरिका, इटली, स्पेन, फ्रांस में लगातार मामले बढ़ रहे हैं और यहां लोगों की मौत हुई है।


जंगलः हाथियों के हमले में 3 की मौत

अनूपपुर/ पुष्पराजगढ़। छग के अचानकमार के जंगलों से होते हुए जंगली हाथियों का एक समूह 1-2 अप्रैल की रात पुष्पराजगढ़ की पुरगा ग्राम पंचायत में घुस आया। ग्रामीण जब इन हाथियों को बाहर निकालने का प्रयास कर रहे थे, तभी हाथियों ने उन पर हमला कर दिया। हाथियों के इस हमले में गांव के तीन लोगों की मौत हो गई।


एसडीएम पुष्पराजगढ़ विजय डेहरिया ने बताया कि बीती रात छग के अचानकमार के जंगलों से लगभग 10 से 12 हाथियों का एक समूह ग्राम पुरबा में घुस गया। गुरुवार सुबह जब गांव के लोग खेतों में काम करने के लिए गए, तो इन हाथियों ने उन पर हमला कर दिया। हाथियों के इस हमले में एक महिला और एक पुरुष की मौके पर ही मौत हो गई। बुरी तरह घायल एक अन्य महिला को ग्रामीणों ने अस्पताल पहुंचाया, जहां इलाज के दौरान उसकी भी मौत हो गई। इस घटना के बाद से ग्रामीणों में दहशत का माहौल है। घटना की सूचना मिलने पर एसडीएम पुष्पराजगढ़ वन अमले के साथ गांव रवाना हो गए हैं और हाथियों की लोकेशन के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।


हरियाणा में वायरस से पहली मौत

चंडीगढ़। हरियाणा में कोरोना संक्रमण के कारण एक बुजुर्ग की मौत हुई है। हरियाणा में कोरोना वायरस के कारण हुई यह पहली मृत्यु है। कोरोना वायरस के कारण अपनी जान गंवाने वाले 67 साल के यह बुजुर्ग अंबाला के निवासी थे। चंडीगढ़ स्थित पीजीआई अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था।


31 मार्च को उन्हें चंडीगढ़ पीजीआई में भर्ती करवाया गया था। मंगलवार शाम को उनका सैंपल लिया गया था। बुधवार दोपहर उनकी रिपोर्ट आई जिसमें वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। कोरोना वायरस के कारण अपनी जान गवाने वाले यह बुजुर्ग टिंबर मार्केट अंबाला छावनी के निवासी व सिंडिकेट बैंक के रिटायर्ड कर्मचारी थे। कोरोना वायरस से हुई 67 वर्षीय बुजुर्ग की मृत्यु के बाद अंबाला के टिंबर मार्केट इलाके को पूरी तरह से सैनिटाइज करने का काम किया जा रहा है। हरियाणा सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, अभी तक उनकी कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं आई है। बताया जा रहा है कि वह दिल के मरीज थे।उनके परिवार में उनकी पत्नी, उनका बेटा और पुत्रवधू और एक पौत्री है। पुत्रवधू बैंक में कार्यरत हैं। स्वास्थ्य विभाग अब इन सभी परिजनों की जांच करवा रहा है साथ ही इन सभी लोगों को क्वॉरेंटाइन भी किया गया है। अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक लॉक डाउन से पहले यह बुजुर्ग लगातार स्थानीय गुरुद्वारे जा रहे थे। अब गुरुद्वारे में उनके संपर्क में आए लोगों की जांच भी शुरू कर दी गई है। इतना ही नहीं गुरुद्वारा में सैनिटाइजेशन का काम भी शुरू कर किया गया है। कोरोना वायरस के कारण अपनी जान गवाने वाले बुजुर्ग को 2017 में स्वाइन फ्लू भी हुआ था। इसके अलावा वह शुगर, ह्दय रोग और बीपी के मरीज भी थे। पीजीआई भर्ती करने से एक दिन पहले उन्हें अंबाला छावनी के लाइफ लाइन अस्पताल में भी एडमिट करवाया गया था। इसके बाद 31 मार्च को उन्हें छावनी के नागरिक अस्पताल में फ्लू ओपीडी में ले जाया गया, जहां से उन्हें सीधे पीजीआई चंडीगढ़ भेज दिया गया। वहीं पर उन्होंने दम तोड़ा। वहीं, केंद्रीय गुप्तचर एजेंसी इंटेलिजेंस ब्यूरो द्वारा इनपुट दिए जाने के बाद हरियाणा में तबलीगी जमात के मरकज से आए 500 से अधिक व्यक्तियों को क्वारंटीन किया गया है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में निजामुद्दीन क्षेत्र की असावधानी का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, हमें पुलिस और इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) से इनपुट मिले हैं कि कुछ कोरोना पॉजिटिव लोगों ने मार्च के महीने में देश की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन क्षेत्र में एक जमात में भाग लिया। हरियाणा ने इस पर तुरंत कार्यवाही करते हुए दिल्ली के निजामुद्दीन से हरियाणा में आए 500 से अधिक लोगों को न्यूनतम 14 दिनों की अवधि के लिए क्वारंटीन में भेज दिया है।


हॉजकिस की वायरस से खतरनाक मौत

लंदन। लंकाशर काउंटी क्रिकेट क्लब के चेयरमैन डेविड हॉजकिस की खतरनाक कारोना वायरस से संक्रमित होने के बाद मौत हो गई। वह 71 वर्ष के थे। हालांकि लंकाशर ने अपने अधिकारिक बयान में उनके निधन का कारण नहीं दिया है, लेकिन क्लब के प्रवक्ता ने ‘प्रेस एसोसिएशन’ को बताया कि उनकी मौत कोरोना वायरस से संबंधित थी।


क्लब ने बयान में कहा कि परिवार की घोषणा के बाद बड़े दुख के साथ बताना पड़ रहा है कि इसके चेयरमैन डेविड हॉजकिस का निधन हो गया है। रिपोर्टों के अनुसार उन्हें पहले कुछ स्वास्थ्य संबंधित परेशानियां थीं। इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड चेयरमैन कोलिन ग्रेव्स ने भी शोक व्यक्त किया।


महिला खिलाड़ियों को एकमुश्त भत्ता

ढाका। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड ने कोविड-19 महामारी के चलते सभी टूर्नामेंट के बंद होने से होने वाली परेशानियों से उबरने के लिए अपनी महिला खिलाड़ियों को एकमुश्त 20,000 टका का भत्ता देने का फैसला किया। बोर्ड अध्यक्ष नजमुल हसन ने कहा कि खिलाड़ियों को मौजूदा परिस्थितियों में मदद दी जानी चाहिए।


2018-19 महिला राष्ट्रीय क्रिकेट लीग में भाग लेने वाली और बोर्ड के 2019-20 में लगे चयन शिविर में शामिल होने वाली खिलाड़ियों को इससे फायदा मिलेगा। यह राशि 17,000 रूपये से कुछ ज्यादा है। हसन ने विज्ञप्ति में कहा, ‘पुरूष खिलाड़ियों की तरह ज्यादातर महिला क्रिकेटर भी घरेलू प्रतियोगिताओं की कमाई पर निर्भर रहती हैं। इसके अलावा हमने महिला खिलाड़ियों के लिये कुछ ट्रेनिंग शिविर लगाए थे, लेकिन कोविड-19 के कारण उन्हें भी रोकना पड़ा।


सोनिया ने वीडियो कॉन्फ्रेसिंग से ली जानकारी

रायपुर/नई दिल्ली। कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी ने आज सभी कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस कर कोरोना से बचाव के उपायों और लागू लॉक डाउन के संबंध में जानकारी ली। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल भी कान्फ्रेंस में शामिल हुए। उन्होंने छत्तीसगढ़ में कोरोना के बचाव और नियंत्रण, लॉक डाउन में आम जनता और जरूरतमंद लोगों को राहत देने के उपायों की विस्तृत जानकारी दी। 


मुख्यमंत्री श्री बघेल ने श्रीमती सोनिया गांधी को जानकारी दी कि प्रदेश में 62 लाख राशन कार्ड धारी है जिन्हें 2 माह का राशन एकमुश्त वितरित करना प्रारंभ कर दिया गया है । प्रदेश में 10 हजार मजदूर बाहर से आए हैं जिनके रहने खाने की व्यवस्था की गई है। पूरे प्रदेश में 355 कैंप स्थापित किए गए हैं, जिसमें 2200 कमरे हैं । आंगनबाड़ी के बच्चों को घर पहुंचा कर पोषण आहार दिया जा रहा है, इसी तरह मध्यान्ह भोजन कार्यक्रम सूखा राशन बच्चों को घर पहुंचाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पूरी तरह लॉक डाउन का पालन किया जा रहा है । सीमावर्ती राज्यों की सीमाएं सील कर दी गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में लॉक डाउन का कड़ाई से पालन किया जा रहा है। राज्य में विदेश से आने वाले सभी लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करने का निर्णय लिया गया है। मनरेगा में 2000 काम शुरू किए गए हैं । जिसमें 5 लाख लोग काम कर रहे हैं । मनरेगा के श्रमिकों को भुगतान के लिए 100 करोड़ रुपए की राशि रिलीज की गई है। प्रदेश में कोरोना वायरस का संक्रमण नियंत्रण में है छत्तीसगढ़ में 9 मरीज मिले थे, जिनमें से 2 ठीक हो गए हैं । राज्य में अनाज और सब्जी की सप्लाई सामान्य है । बाजारों में मूल्य नियंत्रण में हैं । बाजारों में सामाजिक दूरी का पालन किया जा रहा है। 
मुख्यमंत्री श्री बघेल ने श्रीमती सोनिया गांधी को यह भी बताया कि राज्य सरकार को केंद्र सरकार से जीएसटी की दो हजार करोड़ रुपए की राशि नहीं मिली है इसी तरह मनरेगा में मात्र 75 करोड़ रूपय की राशि मिली है। सरकार ने अपनी ओर से 25 करोड़ मिलाकर 100 करोड़ रुपए की राशि रिलीज की है। इस मद में केंद्र से 400 करोड़ रुपये मिलने हैं जो अभी नहीं मिल पाए हैं।


भारत में 50 की मौत, 1965 संक्रमित

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस ‘कोविड-19’ के संक्रमण से अब तक 50 लोगों की मौत हो चुकी है और संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1965 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस का प्रकोप देश के 29 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में फैल चुका है और अब तक इसके 1965 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। इनमें 49 विदेशी मरीज भी शामिल हैं। कोरोना वायरस के संक्रमण से देशभर में अब तक 50 लोगों की मौत हुई है जबकि 151 लोग स्वस्थ हो चुके हैं।


महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, गुजरात, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दिल्ली में संक्रमण के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं। दिल्ली में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 152 हो गई है। कोरोना महामारी से महाराष्ट्र में 13, गुजरात और मध्य प्रदेश में छह-छह, पंजाब में चार, कर्नाटक, तेलंगाना, और पश्चिम बंगाल में तीन-तीन, दिल्ली, केरल, जम्मू-कश्मीर एवं उत्तर प्रदेश में दो-दो, बिहार, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है।


दिल्लीः 328 नए मामले, 12 लोगों की मौत

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरुवार को कोरोना वायरस को लेकर बुलेटिन जारी की। इसमें केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रायलय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि बीते 24 घंटे में कोरोना के 328 नए मामले सामने आए हैं। इसमें संक्रमित 12 लोगों की जान गई है।


साथ ही उन्होंने बताया कि देश में कोरोना के अब तक 1965 केस हैं और अब तक 151 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। अग्रवाल ने कहा कि कोरोना वायरस से अब तक 50 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने कहा कि दिल्ली स्थित निजामुद्दीन मरकज के तबलीगी जमात में हाल में शामिल हुए देशभर के करीब 9000 लोगों की पहचान कर क्वॉरेंटाइन किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि देश भर में मिले 1965 पॉजिटिव केस में से 400 निजामुद्दीन मरकज से जुड़े हुए हैं। देश भर में तबलीगी जमात के जो 9000 लोगों की पहचान की गई है, उनमें से 1300 लोग विदेशी हैं। लव अग्रवाल ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई अभी चल रही है। सभी को इसमें सहयोग की जरूरत है। सभी धर्म के लोग सोशल डिस्टेंस का पालन करें। लॉक डाउन का राज्य सरकारें सख्ती से पालन कराएं। मुंबई के धारावी से मिले मामले पर सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि उस घर को सील कर दिया गया है। बिल्डिंग में रहने वाले सभी लोगों का सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जा रहा है। हम इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि किसके संपर्क में आने से यहां संक्रमण फैला है।


वायरसः अस्पतालों में 9000 से ज्यादा बेड

नई दिल्ली। कोरोनावायरस जैसी महामारी से निपटने के लिए रक्षा प्रमुख अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत ने राजनाथ सिंह को बताया कि कोविड-19 से लड़ने के लिए बड़े पैमाने पर अस्पतालों में 9,000 से ज्यादा बेड और जरूरत होने पर 8500 डॉक्टर मुहैया कराए जा सकते हैं आपको बता दे कि जैसलमेर, जोधपुर, चेन्नई , मानेसर, हिंडन और मुंबई में 1,000 से ज्यादा निष्क्रांतो को क्वारंटाइन किया गया है। उनकी क्वारंटाइन की अवधि 07 अप्रैल 2020 तक है।


आपको बता दे कि नौ सेना अध्यक्ष एडमिरल कर्मबीर सिंह ने रक्षा मंत्री को बताया कि किसी भी प्रकार की आवश्यक सहायता करने के लिए नौसेना के जहाज तैयार स्थिति में रखे गए हैं। उन्होंने कहा कि नौसेना स्थानीय सिविल प्रशासन को आवश्यक सहायता प्रदान कर रही है। वायु सेना के अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने बताया कि पिछले पांच दिनों में देश के अंदर लगभग 25 टन चिकित्सा आपूर्ति करने के लिए वायु सेना के जहाजों ने कई उड़ान भरे हैं।उन्होंने कहा कि सभी आवश्यक सावधानियां सुनिश्चित करने के लिए निर्णायक संक्रियात्मक कार्य भी जारी हैं। थलसेना अध्यक्ष जनरल एम एम नरवणे ने रक्षा मंत्री को बताया कि आवश्यकता पड़ने पर सिविल प्रशासन को 8,500 से ज्यादा डॉक्टर और सहायक स्टाफ प्रदान कराये जा सकते हैं। राजनाथ सिंह के पड़ोसी देशों को सहायता प्रदान करने के निर्देश की ओर संकेत करते हुए उन्होंने कहा कि आवश्यकता पड़ने पर नेपाल को चिकित्सा उपकरणों की सहायता शीध्र प्रदान की जा सकती है। रक्षा आर एंड डी विभाग के सचिव और डीओरडीओ के अध्यक्ष डॉ सतीश रेड्डी ने रक्षा मंत्री को बताया कि दिल्ली पुलिस सहित सुरक्षा संस्थानों को डीआरडीओ की प्रयोगशालाओं में निर्मित 50,000 लीटर से ज्यादा सेनेटाइजर की आपूर्ति की गई और इसके अलावा एक लाख लीटर से ज्यादा सेनेटाइजर की आपूर्ति पूरे देश में गई. उन्होंने कहा कि वार फुटिंग में पांच लेयर वाला नैनो तकनीक से बना फेश मास्क एन99 बनाया जा रहा है। एक हजार बना लिए गए हैं और शीघ्र ही प्रतिदिन के हिसाब से 20,000 फेश मास्क बनाए जाएंगे। डीआरडीओ की प्रयोगशालाओं ने दिल्ली पुलिस को इनके अतिरिक्त 40,000 फेश मास्क की आपूर्ति की है। महानिदेशक एएफएमएस लैफ्टिनेंट जनरल अनुप बैनर्जी ने जानकारी दी कि आवश्यक उपकरण मंगवाए गए हैं और विभिन्न अस्पतालों में भेज दिए गए हैं। सेवानिवृत्त स्वास्थ्य कर्मियों को भी स्वैच्छिक सेवा करने के लिए तैयार किया गया है। राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के लगभग 25,000 कैडेटों को आवश्यक स्थानीय सहायता प्रदान करने के लिए तैयार किया जा रहा है।


केंद्र सरकार को एससी का नोटिस

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के दौरान देश में मास्क और सेनिटाइजर को फ्री देने वाली याचिका पर बुधवार को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को नोटिस जारी किया है। केंद्र ने सोमवार तक उस पर जवाब मांगा है। दरअसल, वकील ने कोर्ट में कहा कि मास्क और सेनेटाइजर इस समय मेडिकल की लाइन में जरूरी वस्तु की कैटेगरी में है, जो कि फ्री अब मिलनी चाहिए। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी कर दिया है।


गौरतलब है कि कोरोना काल में सेनिटाइजर और मास्क की कालाबाजारी के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई थी। जिसमें इनके दाम नियंत्रित करने और मास्क फ्री बाटने की मांग की कोर्ट में पेश गई है। बताते चलें कि संविधान के अनुच्छेद 360 के तहत देश में वित्तीय आपातकाल लागू करने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने आज यानी बुधवार को सुनवाई होनी थी लेकिन कोरोना वायरस के दौरान देश में उत्पन्न हालातों को देखते हुए इस सुनवाई को दो हफ्ते के लिए टाल दिया है। दरअसल, CASC नाम की संस्था का कहना था कि इस समय पूरे देश में एक जैसी व्यवस्था जरूरी है। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अभी इस पर विचार नहीं कर सकते और सुनवाई को लॉकडाउन के बाद करें।


वित्तीय आपातकाल याचिका, सुनवाई टली

नई दिल्ली। संविधान के अनुच्छेद 360 के तहत देश में वित्तीय आपातकाल लागू करने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने आज यानी बुधवार को सुनवाई होनी थी। लेकिन कोरोना वायरस के दौरान देश में उत्पन्न हालातों को देखते हुए इस सुनवाई को दो हफ्ते के लिए टाल दिया है।


दरअसल, CASC नाम की संस्था का कहना था कि इस समय पूरे देश में एक जैसी व्यवस्था जरूरी है। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अभी इस पर विचार नहीं कर सकते और सुनवाई को लॉकडाउन के बाद करने का फैसला लेते हुए 2 हफ्ते के लिए टाल दिया।


बताते चलें कि कोरोना वायरस के कारण पूरे देश में हाहकार मचा हुआ है। देश में तेजी से बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों को रोकने के लिए सरकार ने पूरे देश में लॉकडाउन घोषित कर रखा है। वहीं लोग इससे बचने के लिए हर मुमकिन प्रयास कर रहे हैं। ऐसे में वायरस से बचाव के लिए सरकार ने मास्क और सेनिटाइजर का इस्तेमाल करने की अपील की है।


देश में कोरोना के खिलाफ जारी इस महायुद्ध में पूरा देश एकजुट हो गया है और मदद के लिए आगे आ रहा है। मदद की इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए बुधवार को देश की शीर्ष अदालत के 33 न्यायाधीशों ने 17 लाख रुपये की धनराशि को पीएम केयर्स फंड में दान दी है।


कोरोना से सब मिलकर साथ लड़े

नई दिल्ली। कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में आ रही बढ़ोतरी के बीच आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री से वीडियो कांफ्रेसिंगे के जरिए चर्चा करते हुए मौजूदा हालात की समीक्षा की है। इस दौरान मोदी ने कोरोना महामारी के फैलाव को रोकने के लिए केंद्र और राज्य सरकारों की ओर से किए जा रहे उपायों पर विस्तार से चर्चा की और कुछ अहम सुझाव भी दिए। प्रधानमंत्री ने राज्य सरकारों को आश्वस्त किया है कि केंद्र इस आपदा में राज्यों के साथ मजबूती से खड़ा है और हर संभव मदद की जाएगी।
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्य में कोरोना से बचाव के लिए किए जा रहे उपायों के साथ-साथ लाॅकडाउन के दौरान आम जनता और जरूरतमंद लोगों को राहत देने के उपायों पर विस्तृत जानकारी प्रधानमंत्री मोदी से साझा किया है। उन्होंने राज्य में अब तक सामने आए पाॅजिटिव केसेज के साथ पूरी तरह स्वस्थ हो चुके मरीजों की जानकारी दी है। प्रधानमंत्री ने राज्य की कवायद की सराहना की है। मुख्यमंत्रियों के साथ चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चिंता लॉकडाउन को लेकर दिखी। उन्होंने हर राज्यों के मुख्यमंत्रियों से लॉकडाउन का कड़ाई से पालन कराने की अपील की। साथ ही कहा कि लोगों को जरूरी सामान भी मुहैया कराए जाएं, ताकि किसी को दिक्कत न आए। मजदूरों के पलायन पर प्रधानमंत्री ने अपील की कि पलायन को रोकना होगा। इसके लिए हर राज्य अपने ओर से सारे इंतजाम करे। मजदूरों के लिए शेल्टर होम के साथ उनके खाने-पीने की व्यवस्था की जाए। साथ ही मजदूरों से अपील की जाए कि वह सड़कों पर न निकलें।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस संकट की घड़ी में केंद्र और राज्य सरकारों के बेहतरीन समन्वय की जरूरत है। केंद्र सरकार हर राज्य के साथ खड़ी है और उन्हें जरूरी मदद उपलब्ध कराई जाएगी। इस दौरान मोदी ने राज्यों से मेडिकल सुविधाओं के बारे में भी की। मोदी ने पिछले दिनों में बढ़े कोरोना मरीजों की तादाद पर चिंता जाहिर की। उन्होंने कहा कि जिन लोगों में भी लक्षण दिखे उन्हें आइसोलेट किया जाए। साथ ही संपर्क में आए सभी लोगों को क्वारनटीन किया जाए. अगर क्वारनटीन वार्ड बढ़ाने की जरूरत है तो उसे बढ़ाया जाए। वीडियो कांफ्रेसिंग के दौरान राज्य के मुख्य सचिव आर.पी. मंडल, पुलिस महानिदेशक डी. एम. अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू, स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक सिंह, सीएम की उप सचिव सौम्या चौरसिया भी इस दौरान मौजूद रही।


प्रधानों की लापरवाही बढ़ाएगी संकट

प्रधानों की लापरवाही बढ़ा सकती है,कोरोना सन्दिग्ध लोगों की संख्या


बरेली। रामनगर,आलमपुर,मझगवां में अभी भी कुछ प्रधान अपनी लापरवाही के कारण गाँव के दुश्मन बन रहे हैं।
या प्रधान अपने गांव पर पकड़ नही कर पा रहे हैं।
या प्रधान की बाहर से आने बाले लोग मान नही रहे हैं।
क्योंकि इन्हें न तो खुद की जान प्यारी है ना देश, गाँव या परिवार की
तभी तो सरकार की लाखों कोशिश को यह लोग ठेंगा दिखाते बखूबी नजर आ रहे हैं।
जहां सरकार बार बार कह रही है कि घर से बाहर बहुत ही इमरजेंसी में जाएं, फालतू घर से बाहर न जाएं,पर लोग हैं कि मानने को तैयार ही नही।
कोई मोर्निंगवॉक के लिये जा रह तो कोई घूमने,कोई क्रिकेट खेलने जा रहा है तो कोई पंचायत करने,कोई लुकाछिपी खेल रहा है तो कोई आउटडोर गेम कोई साइकल से मजे लेते घूम रहा है तो कोई तो मोटरसाइकिल से कोई गेट पर मजे ले रहा है तो कोई बाग बगीचे में पुलिस लगातार अपनी तरफ से कोई कसर नही छोड़ रही है कि लोग सरकार ने स्थानीय पुलिस को आदेश दिया है कि किसी मंदिर में पूजा अर्चना को इकठ्ठा न हों।
मस्जिद में नमाज करने न जाएं बल्कि अपनी सभी नमाज़े घर पर ही अदा करें,लोग रुके हैं पर अभी भी कुछ असमाजिक लोग समाज के बारे में सोचे बिना करते ही जा 
 रहे हैं।सरकार का सपना है कि सब सेफ रहे,सुरक्षित रहें, पर आमजनमानस कह रहा है कि मरेंगे हम,आपको क्या है गम?
लेकिन बात यह नही की आप मरेंगे बल्कि बात यह है कि आप अपने साथ और को भी वायरसित कर कोरोना पीड़ित कर जाएंगे। सरकार इस लिये प्रयासरत है कि कोई भी बीमारी से ग्रसित न हो।इसलिये पर सरकार एक दिन में अरबो की गर्त में गिरती जा रही है पर हमारे देशवासियों को अभी भी यह मोदी जी का कोई कारनामा लग रहा है।
तभी तो पुलिस के डंडा मारने पर प्रधानमंत्री जी के समझाने से भी नही समझ रहे हैं।


यह सप्ताह भारत के लिए महत्वपूर्ण

भारत में कोरोना के पहले पीड़ित के दो महीने बाद संक्रमित लोगों की संख्या एक हजार पार कर चुकी है। पिछले सप्ताह में एक हजार कोरोना पीड़ितों की संख्या पार करने वाला भारत दुनिया के 20 देशों में शामिल हो चुका है। संक्रमित लोगों की संख्या और संक्रमण दर को लेकर भारत की स्थिति अभी काबू में कही जा सकती है। सरकार भी इसे नियंत्रित सामुदायिक संक्रमण करार दे रही है।


चुनौती आगे है। इसके बाद बढ़ने वाले नए मामलों की संख्या यह तय करेगी कि भारत में कोरोना वायरस के प्रकोप की स्थिति कैसी रहने वाली है। इसी से यह भी पता चलेगा कि पूरे देश में एक सप्ताह के लाकडाउन का क्या असर रहा। आइए जानते हैं और समझते हैं कि दुनिया के विभिन्न देशों में 1000वें मामले के बाद संक्रमित मामलों का ग्राफ कैसा रहा? इसी ट्रेंड के आधार पर भारत में इस वायरस के आगामी प्रकोप को समझा जा सकता है।


पिछले सप्ताह जिन देशों ने एक हजार मामलों का आंकड़ा पार किया उनमें रोजाना वृद्धि दर बहुत कम रही : वृद्धि दर कम रहने के पीछे माना जा सकता है कि कोरोना वायरस के शुरुआती प्रकोप से जूझने वाले देशों से इन देशों ने बहुत कुछ सीखा है। तभी भारत सहित इन देशों में लाकडाउन और शारीरिक दूरी पर तेजी के साथ भरोसा किया। इटली और स्पेन ने तब कड़े कदम उठाए जब वहां पर यह वायरस व्यापक रूप से विस्तार कर चुका था।



इटावा जेल में गैंगवार, 1 की मौत

इंजी.सनत तिवारी



इटावा। कुख्यात अपराधी मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद उत्तरप्रदेश के जनपद इटावा में आपसी भिंडन्त में मारा गया D-2 कम्पनी से जुड़ा कुख्यात अपराधी मोनू पहाड़ी? योगी सरकार सवालों के घेरे में,,,,जेल में इतने बड़े बबाल को अंजाम देने के पीछे जिम्मेदार कौन? कहीं D-2 कम्पनी से जुड़े मोनू पहाड़ी को मरवाना कोई सोची समझी साजिश तो नही? जेल प्रशासन क्यों नही रोक पाया इस खूनी संघर्ष को? समय समय पर इटावा के जिलाधिकारी जेबी सिंह भी जेल का निरीक्षण करते रहते हैं बावजूद इसके जिलाधिकारी महोदय को भी इतनी बड़ी घटना की सुगबुगाहट तक नही लगी जबकि जनपद इटावा में LIU पूरी तरह सक्रिय हैं? क्या योगी सरकार ने हाफ काउंटर के बाद अपराधियो को मरवाने का ये नया तरीका तो नही खोज लिया कि जेल में गेंगवार में खूनी संघर्ष होने दो,,किसी कैदी की मौत के बाद आपसी झगड़ा दिखाकर मामले को दबा दो,,,कुख्यात भी मारा गया ओर मुठभेड़ भी नही करनी पड़ीं? हालांकि इटावा प्रशासन मृतक मोनू पहाड़ी के मामले को मौत करार दे रहा है लेकिन दूसरे स्वरूप में क्या मोनू पहाड़ी की मौत को सोची समझी साजिश के तहत गेंगवार के बाद हत्या कहना गलत नही होगा? कैसे पहुंचे इटावा जेल के अंदर लाठी डंडे व ईट पत्थर ये जेल प्रशासन पर एक गम्भीर व बड़ा सवाल है वहीं क्या माहौल बिगड़ते वक़्त जेल परिसर के अंदर सुरक्षा व्यवस्था मुस्तेद नही थी या साजिशन सुरक्षा व्यवस्था को दरकिनार कर ये खूनी संघर्ष कराया गया?


गमजदा कर गया' आत्म चिंतन

ड्राइवर, क्लीनर ,कंडक्टर, मैकेनिक मिलावट और मजदूर पेशा व्यक्तियों का हाल भी पूछ लो जनाब


                               पंजाब से सुरिंदर प्रसाद की रिपोर्ट । 


लॉक डाउन के चलते हुए देशभर में हर आदमी अपने घर में रहने की कोशिश कर रहा है बल्कि यूं कहें कि वह भी लाक डाउन हो चुका है। लेकिन इस लाक डाउन में जिस तरह से गरीब लोगों का एक अहम तबका परेशान हैं, उसके बारे में शासन और प्रशासन को गंभीरता से सोचना बहुत ज्यादा जरूरी हो गया है क्योंकि यह वह लोग हैं जो खुद भूखे रहकर अपने मालिकों का गल्ला भरते हैं । यह वह लोग हैं जो सुबह कमा कर शाम को पेट भरते हैं। ऐसे कई लोग अपने घरों के अंदर कैद होकर इस तरह से इंतजार कर रहे हैं जैसे कोई रोज आने वाली इनकम उन्हें घर बैठे ही मिलेगी। लेकिन ऐसी कोई इनकम उनके घर आना नहीं है। हम यहां बात कर रहे हैं बसों पर और ट्रकों पर काम करने वाले वह ड्राइवर, क्लीनर, कंडक्टर तथा बस को सुधारने वाला मैकेनिक। घर बनाने का काम करने वाला सिलावट और तगारी तो क कर घर बनाने में मदद करने वाला वह मजदूर जो इस समय ना तो महाराष्ट्र गुजरात और ना ही राजस्थान गया है वह अपने जिले में अपने गांव में ही रह कर इस प्रकार की मजदूरी कर रहा है। उनका घर भी आज बर्बादी की ओर बढ़ रहा है। क्योंकि बस के या ट्रक के ड्राइवर , क्लीनर और कंडक्टर को अथवा मैकेनिक को कोई महीने की पगार गाड़ी के मालिक नहीं दे रहे हैं यह वह लोग हैं जो रोजाना ?200 से लेकर ?400 तक कमाते हैं आज वह इनकम बंद हो चुकी है। गाड़ी मालिक या प्रशासन इनकी खेर खबर लेने के लिए अभी तक इनके दरवाजे पर नहीं पहुंचा है। दूसरी ओर चालक परिचालक संघ के द्वारा भी शासन और प्रशासन से यह मांग की जा रही है कि उन्हें 21 दिनों तक घर पर रहते हुए लाकडाउन में किस तरह से अपना और अपने परिवार का गुजर बसर करना है उसके लिए उन्हें मदद देना जरूरी है किंतु 22 मार्च से लेकर समाचार लिखने तक ना तो गाड़ी के सेठ और ना ही शासन का कोई जवाबदार अधिकारियों ने उनकी खेर खबर नहीं ली में आने वाला समय उनके लिए कितना कठिन होगा इसकी कल्पना की जा सकती है । कोरोना की महामारी से बचते हुए कहीं भूखे मरने की महामारी आम ना हो जाए इसके लिए खासतौर से कमजोर, मध्यमवर्गीय एवं अत्यंत गरीब परिवारों की पूछ परख करना, उन्हें मदद करना, समाजसेवियों के लिए शासन के लिए और प्रशासन के लिए अति आवश्यक हो गया है। क्योंकि शहर तो वीरान हो चुके हैं और जो घर में रहते हुए वर्षों से गुमसुम थे, वह आज फिर घरों में रहते हुए और ज्यादा गुमसुम हो चुके हैं। क्योंकि उनके पास ना तो बाजार से लाने का और ना घर चलाने का कोई साधन मुहैया है यही हाल मजदूर पेसा सिलावट लोगों और मजदूरों का है। जो रोजाना कमा कर रोजाना खाते हैं आज रोज की कमाई में घर को चलाना और बच्चों को पालना इन लोगों के लिए भी काफी तनावपूर्ण बन चुका है। इसलिए हमारा यही कहना है कि । ऐसे बंद हो चुकी है, लेकिन खाने का काम जारी है ऐसे
      शहरों का यू वीरान होना 
        कुछ गजब कर गया, 
    बरसों से पडे गुमसुम घरो को 
       और गमज़दा कर गया।


सभी ड्राइवर कल्याण संघ लुधियाना पंजाब।


मथुरा-वृंदावन विदेशियों से कराया खाली

ब्रज चौरासी कोस को विदेशी भक्तों से कराया जा रहा है खाली


वृंदावन गोवर्धन मथुरा आदि क्षेत्रों से विदेशी भक्तों को भेजा जा रहा है उनके देश


वृंदावन मथुरा। देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालु भक्त ब्रज क्षेत्र में भगवान श्री कृष्ण की लीला एवं तपस्या हेतु अपने अपने देशों से ब्रज चौरासी कोस के गोवर्धन मथुरा वृंदावन दाऊजी महावन गोकुल बरसाना नंदगांव आदि भगवान कृष्ण की पौराणिक स्थलों के अवलोकन एवं श्रद्धालु भावना के साथ आते हैं। कोरोनावायरस को विश्व में संक्रमण होने के कारण भारत सरकार एवं उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जिला प्रशासन मथुरा को निर्देश जारी किए गए हैं कि क्षेत्र में जितने भी विदेशी हो उनको स्वदेश वापस भेजा जाए। प्रशासन द्वारा कार्यवाही करते हुए इस्कॉन टेंपल से संबंधित विदेशी भक्तों को दूतावास के माध्यम से उनके देश भेजने की कार्रवाई की जा रही है। जिसके अंतर्गत वृंदावन से अनेकों श्रद्धालु विदेशी भक्तों को उनके सुदेश जाने के लिए एयरपोर्ट तक बस आदि की व्यवस्था की गई भारत में कोरोना वायरस का संक्रमण होने के कारण यह कठोर कदम उठाए गए हैं।


 रिपोर्ट डॉ केशव आचार्य गोस्वामी, जीके गौतम वृंदावन मथुरा से स्पेशल रिपोर्ट


बच्चों के नाम 'लॉक डाउन, कोरोना' रखा

देवरिया। कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर विश्व सहित भारत में कोहराम मचा है। कोरोना संक्रमण को देश के बचाने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन किया गया है। डरे-सहमे लोग जरूर हैं लेकिन इस क्षण को यादगार बनाने में भी लोग कसर नहीं छोड़ रहे हैं। कुछ ऐसा ही एक दिलचस्प मामला गोरखपुर में में देखने को मिला। यहां जनता कर्फ्यू के दिन पैदा हुई एक नवजात बच्ची का नाम उसके माता-पिता ने ‘कोरोना’ रख दिया।


कोरोना के खिलाफ जंग में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से प्रभावित होकर उत्तरप्रदेश में देवरिया के एक दंपत्ति ने अपने नवजात शिशु का नाम ‘लॉकडाउन’ रखा है। जिले के खूखुंडू गांव के निवासी दंपत्ति का कहना है कि पीएम मोदी पूरे देश को कोरोना जैसे खतरनाक वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए एक अभिभावक की तरह देश की जनता से लॉकडाउन के नियमों का पालन करने और घरों की दहलीज पार न करने की बार बार अपील कर रहे हैं। उनका यह प्रयास अद्‍भुत है।


दंपत्ति ने कहा कि उन्होंने अपने नवजात का नाम लॉकडाउन इसलिए रखा कि लोगों को प्रधानमंत्री का संदेश दिलों तक छू सके और वे अपने और परिवार की खातिर सरकार द्वारा दी गई गाइडलाइन का अक्षरश: पालन कर सकें। बच्चे के पिता पवन ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान सोमवार को उनके यहां बेटा हुआ और उनके लिए इससे अच्छा नाम बच्चे के लिए हो ही नहीं सकता था।


नवजात बच्ची का नाम रखा कोरोना :


गोरखपुर में जनता कर्फ्यू के दिन पैदा हुई एक नवजात बच्ची का नाम उसके माता-पिता ने ‘कोरोना’ रख दिया। गोरखपुर के सोहगौरा गांव निवासी बबलू त्रिपाठी की पत्नी रागिनी ने जनता कर्फ्यू के दिन बेटी को जन्म दिया। उसके चाचा नितेश त्रिपाठी ने बच्ची का नाम ‘कोरोना’ रखा। जिला अस्पताल की स्टाफ नर्स संगीता कुमारी ने बताया कि हमें आश्चर्य हुआ, जब उसके चाचा ने उसका नाम कोरोना रखा। चाचा ने बताया कि कोरोना वायरस ने देश को एकजुट कर दिया है इसलिए उन्होंने अपनी भतीजी का नाम कोरोना रखा।


अमेठी में राहत सामग्री प्रदान करायेंं

अमेठी। देश में कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते मामले लोगों के लिए चिंता का विषय बन गए हैं। कोरोना के चलते देश में दो हजार से ज्यादा लोग इसकी चपेट में आ गए हैं। वहीं 41 लोगों की मौत हो गई है। सरकार और प्रशासन इस महामारी को रोकने में हर संभव प्रयास कर रहा है। सभी देशवासियों से घरों में रहने की अपील की जा रही है। देश में इस महामारी के हालातों को देख लोग मदद का हाथ बढ़ाते दिख रहे हैं।


ऐसे में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने माहौल को देखते हुए जिला कांग्रेस कमेटी को जरूरतमंद लोगों को राहत सामग्री उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। जिसके बाद पार्टी जिलाध्यक्ष प्रदीप सिंघल ने बुधवार को बताया कि निर्देश पर कांग्रेस का एक एक कार्यकर्ता जरूरतमंद लोगों को राहत सामग्री उपलब्ध कराने में लगे हैं, और वह खुद जगह-जगह जा कर लोगों की मदद कर रहे हैं।


सिंघल ने बताया कि वो लोगों को 10 किलो आटा, 5 किलो चावल, एक किलो दाल, एक किलो सरसों का तेल, धनिया, जीरा, हल्दी, सब्जी मसाला, नमक और चीनी उपलब्ध करा रहे हैं।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


अप्रैल 03, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-235 (साल-01)
2. शुक्रवार, अप्रैल 03, 2020
3. शक-1942,चैैत्र-शुक्ल पक्ष, तिथि- दसवीं, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 06:15,सूर्यास्त 06:40।


5. न्‍यूनतम तापमान 15+ डी.सै.,अधिकतम-30+ डी.सै., बरसात की संभावना बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)



दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...