शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2020

बहनों और भाइयों से अपील करता हूं

नई दिल्ली। चार दिनों से दिल्ली में हो रही हिंसा पर आज पहली बार प्रधानमंत्री मोदी ने चुप्पी तोड़ दी हैं। प्रधानमंत्री ने ट्वीट करते हुए बताया की, दिल्ली के लोगों से मैं शांति बनाये रखने के अपील कर रहा हूं। उन्होंने ट्वीट में आगे बताया की, दिल्ली के विभिन्न हिस्सों में व्याप्त स्थिति पर व्यापक समीक्षा की गई। पुलिस और अन्य एजेंसियां शांति और सामान्य स्थिति सुनिश्चित करने के लिए जमीन पर काम कर रही हैं। शांति और सद्भाव की कोशिशें जारी हैं। मैं दिल्ली की अपनी बहनों और भाइयों से हर समय शांति और भाई चारा बनाए रखने की अपील करता हूं। यह महत्वपूर्ण है कि  वातावरण शांत हो, और सामान्य स्थिति जल्द से जल्द बहाल हो।


 


नगर क्षेत्र में भ्रमण कर लिया जायजा

अतुल त्यागी जिला प्रभारी


जिलाधिकारी अदिति सिंह पुलिस अधीधक द्वारा नगर क्षेत्र में भृमण किया सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया 



हापुड़। जनपद में जुम्मे की नमाज को लेकर व सीएए के विरोध को लेकर सतर्कता बरती गई जिसके तहत आज जनपद में हाई अलर्ट जारी रहा ड्रोन कैमरे द्वारा रखी गई चप्पे-चप्पे पर नजर। जिलाधिकारी अदिति सिंह व पुलिस अधीक्षक संजीव सुमन ने जिले की सुरक्षा व्यवस्था की कमान संभाली जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने कहा कि किसी प्रकार की अफवाहों पर ध्यान ना दिया जाए यदि कहीं कोई गलत अफवाह  फैलाता पाया गया तो उसके प्रति सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। शहर को छावनी में तब्दील कर दिया गया यदि कोई व्यक्ति कोई भी गलत हरकत करता है उसको तत्काल गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाएगा और उसके प्रति सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी इस अवसर पर उपजिलाधिकारी सत्यप्रकाश शर्मा  क्षेत्राधिकारी  राजेश कुमार, थाना कोतबाली प्रभारी निरिक्षक अविनाश गौतम थाना हापुड़ देहात प्रभारी राजेश भारती, आदि भी पुलिस टीम के साथ मौजूद रहे।


तेंदुए के उत्पात से ग्रामीणों में दहशत

सूरजपुर। जिले के वनांचल क्षेत्र चांदनी बिहारपुर में एक बार फिर जंगली तेंदुएं ने दस्तक दी है। तेंदुएं के आतंक से ग्रामीण सहमे हुए है। शाम होते ही आये दिन जंगली जानवर रहवासी क्षेत्र में घुस कर पालतू मवेशियों को शिकार बना रहा है।
मिली जानकारी के मुताबिक बीत रात तेन्दुएं ने 4 बकरियों को शिकार बनाया है। गुरुघासीदास राष्टृीय उद्यान से लगे ग्राम कोल्हुआ के घनसाय पण्डो के 4 बकरियों की जंगल में शरीर के अवशेष मिले।  


इससे पहले भी तेंदुएं ने कई मवेशियों को बनाया था निवाला
गुरुघासीदास राष्टृीय उद्यान के आसपास के रहवासी क्षेत्रो के ग्रामीण जंगली जानवारों के भय से भयभीत रहते है एक माह पूर्व भी ग्राम पंचायत कोल्हुआ मे इसी तरह तेंदुएं ने एक दर्जन मवेशियों का शिकार किया था। इसमे अभी तक पशुओं के मालिक को वन विभाग द्वारा ने मुआवजा नही देने की जानकारी मिल रही है।


दिल्ली की हिंसा परेशान करने वाली

नई दिल्ली। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद (ईजेडसी) की बैठक शुक्रवार को बैठक हुई। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन बैठक में भाग नहीं ले रहे है। ईजेडसी की 24वीं बैठक में ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और पश्चिम बंगाल तथा बिहार के उनके समकक्ष क्रमश: ममता बनर्जी और नीतीश कुमार भाग ले रहे हैं।


पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भुवनेश्वर में कहा कि दिल्ली में जो हुआ वह बहुत परेशान करने वाला है। ऐसा नहीं होना चाहिए था। कई लोगों के साथ एक पुलिस कर्मी और एक आईबी अधिकारी की जान चली गई। पीड़ितों के परिवारों को मदद दी जानी चाहिए और शांति लौटानी चाहिए। पूर्वोत्तर दिल्ली में हिंसा के मद्देनजर गृह मंत्री अमित शाह के इस्तीफे की विपक्ष की मांग पर ममता बनर्जी ने कहा कि अभी, इस समस्या का हल होना चाहिए, राजनीतिक चर्चा बाद में हो सकती है।
 
आपको बता दें कि केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में पूर्वी क्षेत्रीय परिषद (ईजेडसी) की बैठक शुक्रवार को बैठक हुई। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन बैठक में भाग नहीं ले रहे है। ईजेडसी की 24वीं बैठक में ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और पश्चिम बंगाल तथा बिहार के उनके समकक्ष क्रमश: ममता बनर्जी और नीतीश कुमार भाग ले रहे हैं। वहीं दिल्ली हिंसा के लिए कांग्रेस गृह मंत्री अमित शाह का इस्तीफे की मांग कर रही है।


10 लाख से अधिक श्रद्धालु होंगे एकत्रित

दुनिया के सबसे बड़े हनुमान: संतों के साथ 10 लाख लोग करेंगे एक साथ भोजन
इंदौर। इस समय देश का सबसे स्वच्छ
शहर इंदौर हनुमान भक्ति के सागर में डूबा हुआ है। शहर के नजदीक स्थित पितृ पर्वत पर 108 टन वजनी बजरंग बली की विराट प्रतिमा के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में देश भर के श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है… और यहां देश भर के संतों के साथ करीब 10 लाख श्रद्धालु भोजन करेंगे। प्रत्यक्षदर्शियों द्वारा इसे आस्था के मिनी कुंभ की उपमा दी जा रही है।
भगवामय हुआ नगर
24 फरवरी से 3 मार्च तक चलने वाले इस समारोह में देशभर के संत, महात्मा, महामंडलेश्वर, भजन मंडलियां और मातृशक्तियां शामिल हैं। यात्रा की अगुवाई में बड़े-बड़े साधु संत, महात्मा उपस्थित हैं। एयरपोर्ट स्थित श्रीश्री विद्या धाम से श्री पित्रेश्वर धाम तक करीब 7 किलोमीटर लंबी शोभायात्रा में पूरे शहर की हजारों महिलाएं गीत-भजन-कीर्तन करतीं, सिर पर कलश लेकर चलीं। सभी श्रद्धालुओं ने हनुमान चालीसा के पाठ किए एवं राम नाम की धुन रमाई। यात्रा के दौरान पूरा इंदौर भगवामय हो गया। जगह-जगह लगे 50 से ज्यादा मंचों द्वारा शोभायात्रा का स्वागत किया गया। 24 फरवरी सोमवार को यह अद्भुत नजारा शहर में देखने को मिला। समारोह में रोजाना 50 हजार से ज्यादा भक्तगण शामिल हो रहे हैं।
नगर भोज में शामिल होंगे 10 लाख लोग
इस धर्म आयोजन का दिशा निर्देशन भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय द्वारा किया जा रहा है। इस नौ दिवसीय समारोह में सवा लाख हनुमान चालीसा पाठ के साथ-साथ विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे और देश भर से आए बड़े संतों द्वारा भागवत, प्रवचन, आदि दिए जाएंगे। समापन दिवस पर यहां नगर भोज का आयोजन किया जाएगा। इसके लिए 10 अलग-अलग स्थानों पर रसोई घर बनाए जा रहे हैं, जिममें करीब 10 लाख लोगों के भोजन तैयार करने की व्यवस्था की गई है। भोजन प्रसादी परोसने की जवाबदारी भाजपा के युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं को दी गई है।
देश की सबसे ऊंची प्रतिमा
66 फुट ऊंची, 48 फुट की गदा के साथ 90 टन वजन की यह प्रतिमा देश में बैठे हुए हनुमान जी की सबसे ऊंची प्रतिमा है। जन सहयोग से बनी अष्ट धातु की इस प्रतिमा पर विशेष प्रकार की पॉलिश की गई है, जो मौसम से उसका बचाव करेगी। प्रतिमा का निर्माण ग्वालियर के कलाकारों द्वारा 6 साल में पूरा किया गया है, जिसकी लागत करीब 10 करोड़ रुपए आई। निस्संदेह इस प्रतिमा की स्थापना से शहर को व्यापारिक एवं आर्थिक लाभ मिलेगा। शहर के इस भव्य-विशाल पितृ पर्वत को सरकार पर्यटन केंद्र के रूप में स्थापित करने की योजना बना रही है।
अभिजीत मुहूर्त में हुई प्राण-प्रतिष्ठा
प्राण-प्रतिष्ठा समारोह के अंतिम दिन सुबह से वैदिक मंत्रोच्चार किए जा रहे हैं। 12 बजे अभिजीत मुहूर्त में मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा की गई। सिंदूरी चोले में हनुमानजी की प्रतिमा मानो सजीव हो उठी। संतों की मौजूदगी में कैलाश विजयवर्गीय ने प्रतिमा का विशेष अभिषेक किय, इसके बाद अन्य क्रियाएं संपन्न होगी। पितृ पर्वत इन्दौर में हनुमानजी का एक बड़ा तीर्थ बन गया है, जहां 66 फुट ऊंची हनुमानजी की मूर्ति सत्संग में ध्यान करते हुए विराजित की गई है। इसके साथ ही गदा और रामचरितमानस की कृति भी यहां रखी गई हैं। इसी प्रतिमा के नीचे हनुमानजी की मूर्ति माता अंजनी के साथ विराजित की गई है। कल हनुमानजी की प्रतिमा के आम लोगों को भी दर्शन कराए गए।
देश भर के संतों जमावड़ा
पितृ पर्वत पर आज दोपहर हनुमानजी की मूर्ति की मंत्रोच्चार के बीच प्राण-प्रतिष्ठा होते ही हनुमानजी दमक उठे। सिंदूरी चोला और वस्त्रों से सुसज्जित हनुमानजी की मूर्ति के दर्शन के लिए हर कोई ललायित दिखा। प्राण प्रतिष्ठा समारोह में जूना पीठाधीश्वर अवधेशानंदजी महाराज, मानस मर्मज्ञ मुरारी बापू, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरिजी महाराज, महामंडलेश्वर गुरु शरणानंदजी, महामंडलेश्वर कनकेश्वरी देवी, ब्रह्मऋषि उत्तम स्वामी, चिन्मयानंद महाराज, महामंडलेश्वर कालीदासजी महाराज सहित देशभर के संत-महात्मा शामिल हुए।


दंगे की उच्च स्तरीय जांच की मांग

लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर दिल्ली दंगे की उच्च स्तरीय न्यायिक जांच कराने की मांग की है। उन्होंने लिखा है कि दिल्ली मामले में भाजपा और इनकी सरकार अपनी कानूनी और संवैधानिक जिम्मेदारी निभाने में काफी हद तक विफल रही है। दंगा पीड़ितों को हर संभव सहायता मुहैया कराने के लिए केंद्र व दिल्ली सरकार को निर्देशित करने की मांग भी की है।
मायावती ने लिखा है कि दिल्ली दंगों के पीछे पुलिस व प्रशासन की कोताही व विफलता जगजाहिर है। इंसाफ का तकाजा और सुशासन की मांग है कि दिल्ली के दामन पर सिख दंगों की तरह लगे बदनुमा धब्बे को थोड़ा धोने के लिए इन घटनाओं की उच्चस्तरीय न्यायिक जांच हो। यह जांच सुप्रीम कोर्ट के जज की निगरानी में होनी चाहिए ताकि जांच के कुछ मायने निकल सकें व लोगों को हमेशा की तरह यह केवल लीपापोती व खानापूर्ति ना लगे।
उन्होंने लिखा है कि दिल्ली में अब तक करीब तीन दर्जन लोगों की जानें चली गई हैं। करीब 200 लोग घायल हुए हैं। मंहगाई, गरीबी और बेरोजगारी के दौर में लाखों कारोबार ध्वस्त हुए जिनमें ज्यादातर मेहनतकश निम्नवर्गीय लोग हैं। देश की राजधानी दिल्ली 1984 के सिख दंगे की तरह एक बार फिर से घातक दंगे से दहल गया है। यह पूरे देश के लिए अति गंभीर, अति दुखद और अति चिंता की बात है। इसने देश व दुनिया का ध्यान खींचा है। लगातार निगेटिव चर्चा का विषय बना हुआ है।
उन्होंने लिखा है कि खासकर बीजेपी व इनकी केंद्र सरकार की जिम्मेदारी बनती है कि वह ना तो खुद कोई ऐसा काम करें जिससे देश की प्रतिष्ठा पर कोई आंच आए और ना ही अपनी पार्टी के लोगों के उग्र बयानबाजी को सहन करे। जिसकी वजह से हिंसा और अराजकता फैले और अंतरराष्ट्रीय हेडलाइंस बनकर देश की बदनामी हो।


भीम आर्मी के भारत बंद से बड़ा बवाल

नई दिल्ली। दिल्ली हिंसा की चिंगारी कथित तौर पर भीम आर्मी और सीएए समर्थकों के बीच पथराव से भड़की थी। हिन्दुस्तान टाइम्स ने अपनी एक रिपोर्ट में ऐसा दावा किया है। रिपोर्ट के अनुसार, दो पुलिस अधिकारियों ने नाम ना जाहिर करने की शर्त पर बताया कि उत्तर पूर्वी दिल्ली में बवाल शनिवार रात भीम आर्मी समर्थकों और सीएए समर्थकों के बीच पथराव से शुरू हुआ, जिसने बाद में सांप्रदायिक दंगे का रूप ले लिया।
एसएन श्रीवास्तव को दिल्ली पुलिस का नया पुलिस कमिश्नर नियुक्त किया गया है। मौजूदा पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक शनिवार को रिटायर होंगे और शनिवार को ही एसएन श्रीवास्तव अपनी नई जिम्मेदारी संभाल लेंगे। गौरतलब है कि एसएन श्रीवास्तव को कुछ दिन पहले ही स्पेशल कमिश्नर (कानून व्यवस्था) नियुक्त किया गया था। नागरिकता कानून के विरोध में हुई हिंसा को रोकने के लिए उन्हें दिल्ली पुलिस में तैनाती दी गई थी। इससे पहले वह सीआरपीएफ में तैनात थे।
दिल्ली दंगे की जांच के लिए एक एसआईटी गठित की गई है, जो हिंसा की जांच में जुट गई है। एडिश्नल एसपी बीके सिंह इसका नेतृत्व करेंगे। जांच के तहत एसआईटी ने हिंसा प्रभावित दिल्ली में कई लोकेशन पर छापेमारी शुरू कर दी है। एसआईटी एक हजार से ज्यादा सीसीटीवी फुटेज की जांच कर रही है। हिंसा के मामले में अभी तक 48 एफआईआर दर्ज की गई हैं और 106 लोगों की गिरफ्तारी हुई है।


पीएफआई को प्रतिबंधित करने की तैयारी

नई दिल्ली। केंद्र सरकार सीएए के खिलाफ हिंसा में कई जगहों पर पीएफआई का नाम आने के बाद संगठन को प्रतिबंधित करने की तैयारी कर रही है। इसके साथ ही सरकार इसके बैनर तले काम कर रहे प्रमुख लोगों के खिलाफ यूएपीए ऐक्ट के तहत कार्रवाई कार्रवाई कर सकती है। एक अधिकारी ने कहा कि संगठन को प्रतिबंधित करने पर नाम बदलकर गतिविधियां शुरू हो जाती हैं। लिहाजा हम संगठन के मुखिया सहित ऐसे लोगों पर कार्रवाई कर सकते हैं, जो देश में हिंसा फैलाने के लिए जिम्मेदार हैं।
अधिकारी ने कहा कि दिल्ली हिंसा में भी पीएफआई की भूमिका की जांच एजेंसियां करेंगी। फिलहाल यूपी के कई हिस्सों में इस संगठन से जुड़े लोगों की भूमिका पर सरकार के पास रिपोर्ट है। अन्य तथ्य एकत्र किए जा रहे हैं। सरकार कानूनी पहलुओं को भी खंगाल रही है। जिससे कार्रवाई पर सवाल न उठाया जा सके।
गौरतलब है कि यूएपीए के तहत व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई का अधिकार एजेंसियों को दिया गया है। पहले संगठन को ही प्रतिबंधित किया जाता था, लेकिन कानून में संशोधन के बाद यह रास्ता साफ हो गया है कि अगर कोई व्यक्ति देश को नुकसान पहुंचाने के लिए उग्रवादी या आतंकी गतिविधियों में शामिल है तो उसे आतंकी घोषित करके उसके खिलाफ कार्रवाई की जाए। ऐसे व्यक्तियों की संपत्ति जब्त करने का अधिकार भी कानून प्रवर्तन एजेंसियों के पास है।
अभी तक यूएपीए संशोधन का केवल विदेशी आतंकियों के खिलाफ उपयोग किया गया है। मसूद अजहर, हाफिज सईद और दाऊद इब्राहिम को संशोधित कानून के तहत आतंकी घोषित किया गया था। सूत्रों ने कहा कि मामला पेचीदा है, इसलिए कार्रवाई में देरी हो रही है। एजेंसियों को कहा गया है कि वे व्यक्तिगत गतिवधियों पर पूरी रिपोर्ट तैयार करें, जिससे देश के अलग अलग हिस्सों में पीएफआई व अन्य नामों से अस्थिरता फैलाने वाले लोगों पर शिकंजा कसा जा सके। एक अन्य अधिकारी ने कहा कि गृहमंत्रालय के पास पीएफआई और इससे जुड़े कुछ लोगों के बारे में रिपोर्ट आई है इस पर गौर किया जा रहा है।
गौरतलब है कि ईडी ने पिछले दिनों गृह मंत्रालय को भेजी रिपोर्ट में कहा था कि पीएफआई ने अपने बैंक खाते से सीएए विरोधी प्रदर्शनों में संलिप्त कई लोगों को रुपए भेजे गए। पश्चिमी यूपी में ऐसे 73 बैंक खातों को चिन्हित किया गया था। ईडी रिपोर्ट में बताया गया था कि प्रमुख लेनदेन पीएफआई के दिल्ली स्थित मुख्य खाते से हुए। सूत्रों ने कहा कि एजेंसियां दिल्ली में पीएफआई मुख्यालय की गतिविधियों और उसके प्रदेश अध्यक्ष परवेज मुहम्मद की गतिविधियों को भी खंगाल रही हैं।


दिल्ली के बाद यूपी में हिंसा की तैयारी

पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए पत्थर हटवाए


दिल्ली के बाद यूपी में हिंसा की तैयारी! ड्रोन से मॉनिटरिंग में लोगों की छत से मिले पत्थर


 
नई दिल्ली/बिजनौर। देश की राजधानी दिल्ली में हुई भयावह हिंसा के बाद अब उत्तर प्रदेश में कुछ इसी तरह की हिंसा होने का अंदेशा मालूम पड़ता है। दरअसल प्रदेश के बिजनौर  जिले के चहशीरी इलाके में कई घरों की छत पर बोरो में पत्थर (Stones) भरे हुए मिले हैं। बताया गया कि ड्रोन से मॉनिटरिंग के दौरान भारी मात्र में लोगों की छतों पर देखे गए। जिसके बाद हरकत में आई पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए मौके पर पहुंचकर उन पत्थरों को हटवाया। इस दौरान पुलिस ने लोगों से इस बात की अपील भी कि वे किसी भी तरह की अफवाह ना फैलाएं।


वहीं सूबे के अलीगढ़ जिले में हुई हिंसा के बाद से ही पुलिस अलर्ट पर है। ऐसे में पुलिस सतर्कता बरतते हुए बिजनौर के साथ दिल्ली से सटे मेरठ, (Merrut) गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, बागपत जैसे जिलों में सुरक्षा बढ़ दी है। हर जगह ड्रोन (Drone) से निगरानी कर रही है। गौरतलब है कि नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के अलावा अलीगढ़ में हिंसा भड़क गई थी। जिसके कारण वहां की इंटरनेट सेवा को बंद करना पड़ा था। रिपोर्ट्स के अनुसार बिजनौर, मेरठ और सहारनपुर के सभी धार्मिक स्थलों के आसपास व संवेदनशील क्षेत्रों में भारी फोर्स को तैनात किया गया है।


ग्रह कलेश के चलते सामूहिक आत्महत्या

गृहकलेश के चलते एक परिवार खत्म


पत्नी समेत बच्चों की हत्या कर की आत्महत्या
धनसिंह
गाजियाबाद। थाना साहिबाबाद क्षेत्र अन्तर्गत संजयनगर, अ​र्थला में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी और दो बच्चों की हत्या कर स्वयं आत्म हत्या कर ली!


सूत्रों की माने तो अर्थला क्षेत्र में संजय नगर कॉलोनी में धीरज त्यागी अपने परिवार के साथ रहता था। उसके साथ उसकी पत्नी काजल व दो बच्चों थे। जो कि शुक्रवार सुबह अपने कमरे में मृत अवस्था में मिले। मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने कार्यवाही शुरू कर दी। 


एसपी सिटी मनीष कुमार मिश्र ने घटना की जांच कर बताया


घटना स्थल पर पहुंचे एसपी सिटी मनीष कुमार मिश्र ने घटना की जांच करने के पश्चात बताया कि उक्त मामला पारिवारिक कलह का लगता हैं। आत्महत्या करने वाले व्यक्ति का नाम धीरज त्यागी है। कमरे की दीवार पर हत्या व आत्महत्या को लेकर कुछ लिखा गया है। जिससे प्रतीत हो रहा है कि धीरज त्यागी ने ही अपने पत्नी और बच्चों की हत्या कर स्वयं आत्महत्या की है। स्थानीय लोगों से पता चला है कि दीवार पर लिखी लिखाई धीरज त्यागी की है। एसपी सिटी ने आगे बताया कि पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही और शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।


सैकड़ों आप कार्यकर्ता कांग्रेस में शामिल

आशीष अवस्थी


जौनपुर, गाज़ीपुर, वाराणसी, भदोही, सोनभद्र, मिर्ज़ापुर के सैकड़ों आप कार्यकर्ता कांग्रेस में शामिल


लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मुख्यालय पर आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय पर्वेक्षक और पूर्वांचल के संयोजक रहे संजीव कुमार सिंह ने अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और पूर्व सांसद राजेश मिश्रा की उपस्थिति में कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण किया। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा जारी प्रेस नोट में बताया कि संजीव कुमार सिंह इलाहाबाद विश्वविद्यालय से छात्र राजनीति शुरू की। छात्र राजनीति के साथ ही साथ वे समाजसेवा से भी जुड़े रहे। आम आदमी पार्टी के संस्थापक सदस्य रहे संजीव कुमार सिंह पूर्वांचल के कई आंदोलनों की अगुवाई किये हैं। 


आम आदमी पार्टी के नेता संजीव कुमार सिंह समेत सैकड़ों कार्यकर्ताओं को पार्टी की सदस्यता दिलाते हुए प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि पूरे प्रदेश में योगी सरकार की जनविरोधी नीतियों के चलते जनता परेशान है। अपराध और भ्रष्टाचार अपने चरम है। कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी के नेतृत्व में भाजपा की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा रही है, संजीव कुमार सिंह जैसे युवा और जुझारू नेताओं के कांग्रेस में आने से हमारे संघर्ष को मजबूती मिलेगी। पूर्व सांसद राजेश मिश्रा ने कहा कि संजीव कुमार के काँग्रेस पार्टी में आने से पार्टी को पूर्वांचल में मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि पूरे देश में अराजकता की स्थिति है। देश की संस्कृति और संविधान के खिलाफ भाजपा साजिश रच रही है। आज जरूरी है कि युवाओं को पार्टी से जोड़कर संविधान विरोधी भाजपा के चेहरे को बेनकाब किया जाए।



संजीव कुमार सिंह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की नीतियों और विचारधारा से प्रभावित हो कर उन्होंने पार्टी की सदस्यता ग्रहण किया है। राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी और अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व में सड़कों पर एक बेहतर समाज और देश बनाने और हर अन्याय और नाइंसाफी के खिलाफ लड़ाई लड़ी जाएगी। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी अपने स्वराज और आंतरिक लोकतंत्र के विचार को त्याग चुकी है। दिल्ली में साम्प्रदायिक हिंसा पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चुप्पी बेहद खतरनाक है।


बिना कनेक्शन आया बिल, वसूली नोटिस

सरकारी तंत्र की कारगुजारी, बिना कनेक्शन थमाया विधुत बिल, दिया वसूली नोटिस


लखीमपुर खीरी/महेवागंज। विद्युत कनेक्शन दिए बगैर विभाग द्वारा भारी भरकम बिजली बिल वसूली का नोटिस भेज देने का मामला सामने आया है। भुक्तभोगी ग्रामीण ने अधिकारियों को इसकी शिकायत भेजी है। 
फूलबेहड़ के गुरदीनपुरवा निवासी नसीर अहमद ने अधिशाषी अधिकारी को बताया कि उसने 2018 में घर मे बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन किया था। पर कोई न कोई कमी बताकर कनेक्शन नही जोड़ा। जबकि 27 दिसम्बर 2019 को बिजली विभाग ने उसे करीब 20 हजार रुपये बिजली बिल बकाया का नोटिस भेज दिया। बताया कि उसके घर मे न तार खिंचे है और न मीटर लगा है।


संस्था के द्वारा बेसहारा गोवंश की सेवा

बेसहारा घुमन्तु गोवंश को हरा चारा खिलाकर निरन्तर कि जा रही है सेवा 


बागपत/बड़ौत। कल्याण भारती सेवा संस्थान के तत्वावधान में संस्थान के कार्यालय आजाद नगर बड़ौत से करीब शाम 7 बजे से नगर के बेसहारा घुमन्तु गोवंश को हरा चारा खिलाने हेतु एक सेवा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। 
संस्थान द्वारा इस सेवा के माध्यम से नगर की सड़कों व बाजार एवं कुड़ास्थलों पर खाने की तलाश में भूखे घूमते गोवंश को हरा चारा खिला कर उनकी सेवा करने का प्रयास एक प्रयास है।


सेवा कार्यक्रम का आयोजन संस्थान के प्रबन्ध निदेशक गोपी चन्द सैनी के नेतृत्व में किया गया जिसमे श्रीमन मनोज जैन, डॉ0 रामफल, महावीर सिंह, विनोद कुमार, गुड्डू, विक्की, संदीप व प्रमोद कुमार, गोविंद, छोटू व अन्य ने भाग लिया।


विकास को तरसती गंगनहर झाल

साधन हैं पर विकास को तरसती गंगनहर झाल


अगले वर्ष हरिद्वार कुम्भ के दौरान गुजरेंगे लाखों श्रद्धालु


काज़ी अमजद अली
भोपा/मुजफ्फरनगर। पर्यटन उद्योग को बढावा देकर रोजगार के अवसर प्रदान करने के अधूरे प्रयासों के कारण ब्रिटिशकालीन 1842 से 1854 के मध्य बनी गंगनहर झाल उपेक्षा का शिकार है। कृत्रिम झरने व पानी की उपलब्धता के बावजूद नहर झाल को विकास की दरकार है।


गंगनहर पर ब्रिटिशकाल में बनी झाल आज पर्यटन का केन्द्र बन सकती है। कृत्रिम झरनों से गिरता दूधिया जल व शानदार वास्तुकला पर आधारित पुरानी इमारतें बरबस ही राहगीरों को अपनी ओकर आकर्षित करती हैं। पुराने जमाने की तकनीक पर आधारित जल शक्ति से टरबाईन का संचालन बराबर में ऊँचाई से गिरता हजारों क्यूसेक पानी 150 वर्ष बीतने के बाद भी अद्भुत छटा को प्रस्तुत करता है। घने वृक्षों की छांव में बीच बनी पनचक्की की छोटी झाल भी मनोरम व सुखदायी दृश्य प्रस्तुती करती है। भोपा क्षेत्र की निरगाजनी गंगनहर झाल को आवश्यकता है। केवल विकास की,थोडे से निवेश व साधनों को विकसित कर नहर झाल को पर्यटन के रूप में विकसित किया जा सकता है। नौकायान की सुविधा के  साथ रेस्त्रां आदि को स्थापित कर क्षेत्र में पर्यटकों को आकर्षित कर रोजगार के अवसर प्रदान किये जा सकते हैं। जिससे क्षेत्र में रोजगार बढने के साथ साथ प्राचीन धरोहर को सुरक्षित रखने को भी मजबूती मिलेगी। प्रथम चरण में केवल साफ सफाई पर ध्यान दिया जाये तो आगामी गर्मी के मौसम में दिल्ली-हरिद्वार जाने वाले यात्रियों को इस ओर आकर्षित करने में देर न लगेगी अगले वर्ष हरिद्वार में आयोजित होने वाले कुम्भ के दौरान जहां लाखों श्रद्धालु के गंगनहर पटरी से गुजरने की आशा हैए ऐसे में समय रहते इस ओर ध्यान देने की आवश्यकता है।
राजधानी दिल्ली से मुरादनगर होते हुवे यात्री गंग नहर पटरी द्वारा हरिद्वार पहुँचते हैं। लगभग 114 km लम्बी गंग नहर पटरी मार्ग पर जनपद गाज़ियाबाद की 12.35 मेरठ की 42.03 मुज़फ्फरनगर जनपद की सीमा 59.57 पड़ती है। मार्ग पर बनी भोला की झाल,सलावा की झाल,चितौडा की झाल,निरगाजनी झाल,मोहम्मदपुर की झाल यात्रियों को सुखद अहसास कराती हैं। शासन प्रशासन अगर इस ओर ध्यान दे तो गंग नहर पटरी पर बनी झाल यात्रियों को अवश्य ही अपनी ओर आकर्षित करेगीं।


एकता पर चोट (समसामयिक)

गंगा जमुनी एकता पर चोट हो रही थी!और देश के जिम्मेदार शायद सो रहे थे!


राजनेताओं की राजनीतिक रोटियां!उनका क्या होगा जिनके चूल्हे हमेशा के लिए बुझ गए?


पिछले चार पांच दिनों से देश की राजधानी दिल्ली में जंगलराज का-सा माहौल बना हुआ था, गंगाजमुनी एकता पर चोट हो रही थी और देश के जिम्मेदार शायद सो रहे थे। आज सब के सब कठघरे में हैं। ऐसे हालात पर सवाल उठना लाजमी है कि इसमें कोई षड्यंत्र तो नहीं? आखिर यह किसकी शह पर तांडव हुआ?वह भी तब जब दिल्ली हाई अलर्ट पर थी, क्योंकि दुनिया का शक्तिशाली व्यक्ति कहा जाने वाला व्यक्ति यानी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प भारत के दौरे पर थे, बल्कि उस दिन वे दिल्ली में मौजूद थे। अनुमान लगाया जा रहा है कि 1984 के दंगों से भी बड़ी यह घटना हुई है।
यह कानून व्यवस्था का मजाक ही है कि अगर राजधानी सुरक्षित नहीं है तो सरकार देश की अन्य जगहों पर ऐसी घटनाओं से भला क्या सुरक्षा देगी। जिस शहर में दुनिया का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति मौजूद हो, देश के गृहमंत्री, प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति की उपस्थिति हो, वहां ऐसा तांडव! तो सवाल उठना लाजमी है। जहां पर पुलिस मूक दर्शक दिखी और उत्पातियों ने खुल कर तांडव किया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, जिनका उदय धरने से हुआ और वे धरने का दूसरा रूप माने जाते हैं, उनकी खामोशी भी हलक से नीचे नहीं उतर रही है। अगर समय रहते वे सड़क पर उतरे होते तो शायद जिनकी जान गई आज वे जिंदा होते और जनसंहार रुक सकता था। ऐसा करने पर उनकी गांधीगीरी को सत्य माना जा सकता था। मगर उन्होंने भी दिल्ली लूटने के बाद आम राजनीतिक की तरह अपनी भूमिका निभाई।अचरज की बात एक और हुई कि जिस हाई कोर्ट के जस्टिस मुरलीधर ने पुलिस कार्यवाही का संज्ञान लिया उनके तबादले का फरमान जारी हो गया। यह भी संविधान से खिलवाड़ ही कहा जा सकता है। इसी तरह के फैसले पहले भी महाराष्ट्र में सरकार बनाने के दौरान देश ने देखा हैं, चौरासी के दंगों की तरह दिल्ली मे राजनीतिक पार्टियों को एक और मुद्दा मिल गया, अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने का। मगर उनका क्या होगा, जिनके चूल्हे हमेशा के लिए बुझ गए?


गाय ने दिया अद्भुत बछड़े को जन्म

पंकज राघव


संभल। इसे कुदरत का करिश्मा कहे या चमत्कार ,आमतौर पर गाये एक ही बच्चे को जन्म देती है और सब बच्चो के चार पैर और एक सिर होता है| लेकिन कुदरत के इस खेल के बिलकुल विपरीत एक वाक्या सामने आया है संभल के थाना रजपुरा क्षेत्र के गांव कन्हुआ में जहा गाय ने एक बच्चे को जन्म दिया है | यहाँ पर गाय ने ऐसे चमत्कारी बच्चे को जन्म दिया है जसके दो मुंह और 8 पैर है| यह आप तस्वीर में साफ़-साफ़ देख सकते है | गांव वालो का कहना है| कि हमें ऐसा चमत्कार पहली बार देखने को मिला है| आपको बता दे कि इस अद्भुत चमत्कार कि खबर जब लोगो तक पहुंची तो आसपास के ग्रामीण देखने पहुंचे वह देखने वालों का तांता लगा हुआ है|


सीतापुर कारागार पहुंचे पूर्व यूपी सीएम

सीतापुर। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव धोखाधड़ी के मामले में पत्नी तथा बेटे के साथ सीतापुर जेल में बंद सांसद आजम खां से भेंट करने लखनऊ से पहुंचे। इस दौरान अखिलेश यादव ने कहा कि आजम खां राजनीतिक षड्यंत्र के शिकार हुए हैं। दंगा ही भाजपा का गुजरात मॉडल है। बताया जा रहा है कि अखिलेश यादव के साथ नौ लोगों को जेल के अंदर आजम खां से भेंट करने की अनुमति दी गई है।


अखिलेश यादव ने कहा कि आजम खां को न्यायालय से इंसाफ मिलेगा। यह तो सभी को दिख रहा है कि आजम खां के खिलाफ यह राजनीतिक षड्यंत्र है, जिसके तहत उनको जेल में रहना पड़ रहा है। अखिलेश ने कहा कि किसी के खिलाफ भी बदले की भावना से कार्रवाई नहीं होनी चाहिए। अखिलेश यादव ने आजम खां की गिरफ्तारी के मामले को भाजपा का षडयंत्र करार दिया। उन्होंने कहा कि जब से भाजपा की सरकार बनी है, उन (आजम खां) पर मुकदमे दर्ज कराए गए हैं। उनको साजिश के तहत फंसाया गया है। भाजपा के नेता ने शिकायत की। उनका कहना था कि क्या जिसने शिकायत की वो भाजपा का नहीं है। सरकार पर निशाना साधते हुए बोले कि किसी से बदले की भावना से काम नहीं होना चाहिए, लेकिन बीजेपी से क्या उम्मीद करेंगे आप। सीतापुर जेल में शिफ्टिंग को अखिलेश यादव ने सरकार का फैसला बताया और चुटकी लेते हुए कहा कि हमें रामपुर नहीं जाना पड़ा। सीतापुर नजदीक है, यहीं आ गए। अखिलेश ने कहा कि, जो राष्ट्र के नाम पर वोट लेकर आए थे, आज हमें राष्ट्र उन्हीं से बचाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि नफरत फैलाना और देश में आग लगाना ही गुजरात मॉडल है।


दिल्ली में हिंसा पर अखिलेश यादव ने कहा कि सरकार दिल्ली के दंगे नहीं रोक सकी। भारतीय जनता पार्टी तो समाज को बांटकर राजनीति करती है। सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमला करते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि जब सदन में मुख्यमंत्री की भाषा को मर्यादित नहीं कहा जा सकता तो बाहर हम उनसे कया उम्मीद करें।


सांसद आजम खां को रामपुर से सीतापुर जेल में गुरुवार को शिफ्ट करने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री व समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव लखनऊ से सीतापुर जिला कारागार पहुंचे। अखिलेश यादव के साथ एमएलसी आनंद भदौरिया, विधायक महमूदाबाद नरेंद्र वर्मा व पूर्व विधायक अनूप गुप्ता तथा राधेश्याम जायसवाल समेत कई जनप्रतिनिधि भी हैं। अखिलेश यादव ने सीतापुर जेल में जाकर रामपुर के सपा सांसद आजम आजम खां, उनके बेटे अब्दुल्ला आजम और पत्नी व सपा विधायक तजीन फातमा से मुलाकात की। आजम खां के साथ बुधवार को उनके बेटे अब्दुल्ला और पत्नी और सपा विधायक तजीन फातमा को फर्जी जन्म प्रमाणपत्र मामले में जेल भेज दिया गया।


जेल में अखिलेश यादव को सपा सांसद आजम खां की बैरक में भेजा गया। वहां पर दोनों नेताओं के बीच काफी देर तक वार्ता हुई। इस दौरान जेल के बाहर बड़ी संख्या में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता एकत्र थे। योगी आदित्यनाथ सरकार में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा कि आजम खां को फर्जी दस्तावेज के मामले में कोर्ट ने जेल भेजा है। सरकार के प्रवक्ता श्रीकांत शर्मा ने कहा कि अब समाजवादी पार्टी के लोग राजनीतिक रंग देने की कोशिश न करे। यह तो कोर्ट कोर्ट का फैसला है, न कि हमारी सरकार या पार्टी का। प्रदेश में कानून का राज है, अगर कोई कानून का उल्लंघन करेगा, तो कानून सख्ती के साथ अपना काम करेगा। पहले की सरकारों ने राजनैतिक दबाव में कानून का सही से पालन नही किया। हमारी सरकार में अगर किसी ने भी अपराध, भ्रष्टाचार या फर्जीवाड़ा किया है, तो उसे बख्शा नहीं जायेगा। समाजवादी पार्टी सरकार के कार्यकाल में कुछ लोगों ने सरकार को अपनी जागीर समझा और नियम-कानून को ताक में रखकर फर्जीवाड़ा और भ्रष्टाचार किया।


उत्तराखंड कैबिनेट में 14 प्रस्ताव पास

उत्तराखंड कैबिनेट की 14 अहम प्रस्तावों पर मुहर


पंकज कपूर


देहरादून। शुक्रवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अध्यक्षता में सचिवालय में आयोजित हुई मंत्रिमंडल की बैठक में कुल 14 प्रस्तावों पर मुहर लगाई गई है।


● उत्तराखंड में भारत सरकार के द्वारा साइंस सिटी में सलाहकार पद की स्वीकृती। जीएस रौतेला को बनाया सलाहकार। वह राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद में भी काम कर चुके हैं। तीन वर्ष की होगी नियुक्ति।


● उत्तराखंड कृषि उत्पादन मंडी अधिनियम 2011 की जगह पर केंद्र सरकार द्वारा बनाया गया कृषि उपज एवं पशुधन विपणन अधिनियम 2017 प्रदेश में होगा लागू। किसानों के लिए मंडी में फसल पहुंचाने के लिए होगी अनिवार्यता खत्म। किसान अपने दामों पर कहीं भी बेच सकेंगे फसल। मंडी परिषद के अध्यक्ष सरकार द्वारा नियुक्त नहीं हो पाएंगे। अब होगा मंडी परिषद के अध्यक्ष के लिए चुनाव।


● मेगा इंडस्ट्री इन्वेस्टमेंट नीति 2015 में संसोधन किया। निगेटिव लिस्ट में शामिल उत्पादों पर नहीं मिल सकेगी अब छूट। तंबाकू पान मसाला, सीमेंट, पॉलीथीन आदि पर अब छूट नहीं। हालांकि पहले से ही स्थापित उत्पादों पर मिलती रहेगी पांच साल तक छूट।


● स्टार्टअप नीति 2018 में संशोधन।


● पीडब्ल्यूडी अब बना सकेगा नई सड़क 500 मीटर लंबी और तीन मीटर चौड़ी।


● मेगा टैक्सटाइल पार्क पॉलिसी धारा नौ में संशोधन। 2021 की बजाय अब 2023 तक पॉलिसी बढ़ाई।


● अटल आयुष्मान योजना में बदलाव। सरकारी अस्पताल के रेफरल प्रक्रिया खत्म। स्टेट हेल्थ एजेंसी की जगह स्टेट हेल्थ अथॉरिटी नामित। कॉल सेंटर का होगा गठन। प्रदेश में बनेंगे 10 कॉल सेंटर। आयुष्मान योजना में दिक्कतों को लेकर कॉल सेंटर के माध्यम से जानकारी ली जाएगी। राज्य कर्मचारियों को मिलेगा अटल आयुष्मान योजना के तहत फ्री इलाज। कर्मचारियों के स्वास्थ्य बीमा के तहत ग्रेड पे के हिसाब से महीने में सरकार प्रीमियम लेगी। वेतमान के हिसाब से 250, 450, 650, 1000 प्रीमियम सरकार लेगी।.


● उत्तराखंड साक्षी संरक्षण अधिनियम 2020 को मंजूरी। प्रदेश में अब गवाहों को सुरक्षा मिलेगी। मृत्यु दंड समेत बड़े अपराधों के गवाहों को सुरक्षा मिलेगी।


● पंचायतीराज एक्ट 2016 में संशोधन। धारा दो में ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत को परिभाषित किया गया।


● संविदा कृषि अधिनियम 2018 को राज्य में लागू किये जाने पर लगी मुहर। किसानों के साथ कॉन्ट्रेक्ट कर अधिनयम के तहत की जाएगी खेती।


● एसडीआरएफ में पुलिस के जवानों की प्रतिनियुक्ति पांच से बढ़ाकर सात साल।


● आदि बद्री से लगी जमीन को पार्किंग के लिए भारतीय पुरातत्व विभाग को सरकार द्वारा नि:शुल्क दी जाएगी।


● 162 कब्रिस्तान की चहारदीवारी करने के लिए एक साल समय बढ़ा।


● उत्तराखंड उपकर अधिनियम 2015 के अंतर्गत विक्रय कीमत में संसोधन।


मृतकों का आंकड़ा 42, श्रीवास्तव नए कमिश्नर

नई दिल्ली। देश कि राजधानी दिल्ली में रविवार से शुरू हुई हिंसा का कहर आज भी जारी है। आज यानी शुक्रवार को मरने वालों की गिनती में फिर बढ़ोतरी हुई है। दंगे में मरने वालों का आंकड़ा 42 हो गया है। इनमें से 38 लोगों ने अस्पताल में दम तोड़ा है। वहीं सैकड़ों की संख्या में लोग घायल बताए जा रहे हैं। इस दौरान प्रशासन द्वारा हर तरह की स्थिति से निपटने की लगातार कोशिश की जा रही है। इस बीच खबर आई है कि हिंसा शुरू होने के बाद दिल्ली के स्पेशल कमिश्नर (लॉ एंड ऑर्डर) बनाए गए एसएन श्रीवास्तव को दिल्ली का नया पुलिस कमिश्नर (Police commissioner)बना दिया गया है। गृह मंत्रालय के आदेश पर एसएन श्रीवास्तव को यह कार्यभार सौंपा गया है।


दिल्ली हिंसा को लेकर पुलिस की तरफ से कार्रवाई लगातार जारी है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, 22 फरवरी से 26 फरवरी के बीच कुल 48 केस दर्ज किए गए हैं। इनमें 41 दंगा भड़काने, 4 हत्या, 1 गैर इरादतन हत्या, 2 हत्या की कोशिश का केस है। अब तक जितने लोगों की जान गई है, उसमें 13 की मौत गोली लगने और 22 लोगों की अलग-अलग चोट लगने के कारणों से हुई है। पुलिस की तरफ से 24 घंटे सुरक्षा के लिए स्पेशल सीपी (कानून) की अगुवाई में 3 स्पेशल सीपी, 6 ज्वाइंट सीपी, 1 एडिशनल सीपी, 22 DCP, 20 ACP, 60 इंस्पेक्टर, 600 जवान, 100 महिला जवानों को तैनात किया गया है। साथ ही 60 अर्धसैनिक बलों की कंपनियां भी तैनात हैं। वहीं हिंसा के दौरान मारे गए आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के आरोपी आम आदमी पार्टी ने सस्पेंड किए गए पार्षद ताहिर हुसैन के खिलाफ एक्शन लेना शुरू कर दिया है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की टीम ताहिर हुसैन के घर पहुंची है। डीसीपी क्राइम की अगुवाई में फॉरेंसिक की टीम ताहिर हुसैन के घर पहुंची है।


पोर्न स्टार लैना रोड्स ने किया हैरान

न्यूयॉर्क। अमेरिकी पोर्न स्टार लैना रोड्स ने एक विडियो में दावा किया है कि एक बड़ा फुटबॉलर उन्हें पर्सनल मेसेज भेजता है। उन्होंने बताया कि उस फुटबॉलर के इंस्टाग्राम पर 4.3 करोड़ से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। 23 साल की पोर्न स्टार लैना रोड्स ने सोशल मीडिया पर एक विडियो में ऐसा दावा किया। उन्होंने इस विडियो में कहा कि एक फुटबॉलर उन्हें निजी मेसेज भेजता है। उन्होंने आगे कहा कि उस फुटबॉलर के इंस्टाग्राम पर 4.3 करोड़ से ज्यादा फॉलोअर्स हैं और वह सालाना करीब 5.74 रुपये कमाता है।


लैना रोड्स का यह विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है जिसे उनके दोस्त माइक मैलक ने शेयर किया है। बता दें कि लैना के इंस्टाग्राम पर 77 लाख फॉलोअर्स हैं। लैना का जवाब सुनते ही उनकी दोस्त हैरान रह गईं। लैना रोड्स ने फिर आगे कहा कि उस फुटबॉलर के इंस्टाग्राम पर 43 मिलियन (4.3 करोड़) फॉलोअर्स भी हैं। जब उनकी दोस्त फुटबॉलर का नाम पूछती हैं तो लैना कोई जवाब नहीं देतीं।


खननः अखिलेश सीबीआई के रडार पर

उत्तर प्रदेश खनन घोटालाः अखिलेश यादव सीबीआई के रडार पर, विधि सलाहकार से पूछताछ
जेपी मिश्रा।
लखनऊ। खनन घोटाला की फाइनल जांच कर रही सीबीआई टीम  हमीरपुर पहुंच चुकी है। उसने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के विधि सलाहकार मनोज त्रिवेदी को तलब कर दो घंटे तक पूछताछ की। पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संजय दीक्षित के पिता और दो चाचा समेत छह लोगों से भी अवैध खनन के नेटवर्क के बारे में पूछताछ की गई है। सूत्रों की माने तो विधि सलाहकार से अहम जानकारी जुटाने के बाद अब सीबीआई अखिलेश यादव के यहां पूछताछ के लिये दस्तक दे सकती है। सीबीआई की दो सदस्यीय टीम पिछले चार दिनों से हमीरपुर स्थित मौदहा बांध निर्माण विभाग के निरीक्षण भवन में कैम्प कर खनन घोटाले की परतें खोलने में जुटी है। अखिलेश यादव की सरकार में महोबा जिले के सूपा निवासी मनोज त्रिवेदी विधि सलाहकार थे। हाईकोर्ट के आदेशों की अनदेखी कर अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री रहते हुये 14 मौरंग के पट्टों को मंजूरी दी थी। इसके बाद खनन मंत्रालय गायत्री प्रजापति के हाथ में आने के बाद 49 मौरंग के पट्टे जारी किये गये थे। इन सभी मौरंग के पट्टे जारी करने में नियमों और उच्च न्यायालय के निर्देशों को ताक पर रखा गया था।


हाईकोर्ट के आदेश पर अगस्त 2016 से सीबीआई अवैध खनन की लगातार जांच कर रही है। गुरुवार को सीबीआई के अधिकारियों ने तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के विधि सलाहकार मनोज त्रिवेदी को कैम्प आफिस में तलब कर उनसे पूछताछ की। सूत्र बताते है कि सीबीआई ने उनसे सवाल किया कि मौरंग के पट्टे स्वीकृत होने में विधि सलाह दी गयी या नहीं। पूछताछ के बाद इनके हस्ताक्षर भी कराये गए।


सीबीआई की नोटिस पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संजय दीक्षित के पिता सत्यदेव दीक्षित, उनके चाचा राकेश दीक्षित व देव नारायण दीक्षित भी कैम्प आफिस तलब हुए और करीब दो घंटे तक इन सभी से लम्बी पूछताछ की गयी है। बयान लेने के बाद इन सभी से साइन लिये गये हैं। इसके अलावा एक महिला और दो अन्य कारोबारियों से भी पूछताछ की गयी है। कैम्प आफिस से बाहर निकलते ही मौरंग कारोबारी बेचैन नजर आये। सीबीआई की एफआईआर में यहां की तत्कालीन आईएएस बी.चन्द्रकला, खनन अधिकारी मुईनुद्दीन, एमएलसी रमेश मिश्रा, दिनेश मिश्रा, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष संजय दीक्षित, उनके पिता सत्यदेव दीक्षित, रिटायर्ड खनिज लिपिक रामआसरे प्रजापति व लोनिवि का रिटायर्ड बाबू रामऔतार समेत ग्यारह लोग आरोपित हैं। इन सभी के खिलाफ ईडी को भी पत्र लिखा जा चुका है।


तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अब सीबीआई के रडार पर आ चुके है क्योंकि उन तक पहुंचने के लिये विधि सलाहकार मनोज त्रिवेदी से पूछताछ कर सीबीआई ने अहम जानकारी जुटा ली है। हाईकोर्ट ने जनहित याचिका पर 16 अक्टूबर 2015 को जारी मौरंग के 49 पट्टे निरस्त कर जांच कमेटी बनाकर जिम्मेदार अधिकारियों व पट्टा धारकों के खिलाफ कार्यवाही भी करने के आदेश दिये गये थे। पूर्व में चौदह पट्टे भी निरस्त हुये थे। उन्होंने बताया कि सीबीआई ने अब यहां अवैध खनन की जांच करने के साथ ही अखिलेश सरकार में तैनात रहे प्रशासन व खनिज विभाग के अधिकारियों का ब्यौरा भी अपने हाथ में ले लिया है।


याचिकाकर्ता ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
याचिकाकर्ता याचिकाकर्ता विजय द्विवेदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र भेजकर अपनी जान का खतरा बताते हुये सुरक्षा मांगी है। उन्होंने बताया कि अवैध खनन की सीबीआई जांच अंतिम दौर पर है। ऐसे में खनन माफिया उन्हें रास्ते से हटाने की साजिश कर रहे हैं। लगातार परिवार समेत जान से मारने की धमकी भी दी जा रही है। हाल में ही जजी परिसर में दो बार खनन माफियाओं ने हमला किया है। उन्होंने कहा कि सीबीआई और ईडी जांच में फंसने वाले आरोपित सपा और बसपा सरकार के राजनेता हैं जो उनकी हत्या करा सकते हैं। याचिकाकर्ता ने उच्च सुरक्षा की मांग करते हुये गृह सचिव और सीबीआई को पत्र दिया है।


दुधवा की 'लाइफ लाइन' का वजूद खत्म

दुधवा की लाइफ लाइन सुहेली नदी का वजूद हुआ खत्म, जिम्मेदार है मौन
फारुख हुसैन


लखीमपुर खीरी। ज्यों-ज्यो मौसम में तब्दीली होना शुरू हो गयी है और एक बार फिर गर्मी और तेज चिलचिलाती धूप से मनुष्य तो मनुष्य जीव ज॔तु भी बेहाल होने वाले हैं और इस मौसम में सबसे ज्यादा परेशान करने वाली शदीद प्यास सभी को बेहाल करने वाली है। हालाकि मुनष्यो को तो इस मौसम से खाश परेशानी नहीं होने वाली है क्योकि उनके पास तो अपनी प्यास बुझाने के कई साधन मौजद है जहां वो ठंडे और स्वच्छ पानी से अपनी प्यास बुझाकर तरोताजा हो जाया करेगें।


परंतु उन वन्यजीव जो कि केवल प्राक्रतिक की बनाई हुई नदी और तालाब में भरे पानी से अपनी प्यास बुझाते हैं और सबसे बड़ी और सोचनीय बात की उनके लिये मौजूद नदी या फिर तालाब वो भी देखभाल के अभाव के कारण अब सूखते जा रहें हैं। जिसके कारण वन्यजीवों को अपनी प्यास बुझाने के लिये दर दर भटकना पड़ रहा है। जिससे वन्यजीव प्रमियों को इस बात की चिंता सताने लगी है। बता दे कि इसी का एक जीता जागता उदाहरण दुधवा टाइगर रिजर्व की लाइफ लाइन कही जाने वाली सुहेली नदी जिम्मेदारों के गैर जिम्मेदाराना रवैए के चलते अब अपना वजूद पूरी तरह से खो चुकी है। जिसके चलते बीते वर्ष की तरह इस वर्ष भी वन्य जीवों को प्यास बुझाने के लिये दर दर भटकना पड़ेगा।


दरअसल दुधवा की सुहेली नदी की सिल्ट सफाई न होने से सुहेली पुल से पर्वतिया घाट तक कई किलोमीटर में नदी ने रेत का टीला बना दिया है और नदी अपना रुख मोड़ कर नकउवा नाले को चली गई है। जिसके कारण वन्यजीवों को पूरी तरह से पानी की पूर्ति नहीं हो पा रही है। सर्दी और बरिश के मौसम में तो इस बात से कोई खाश प्रभाव नहीं पड़ता दिखाई देता है लेकिन गर्मी के मौसम में सुहेली नदी को वजूद खत्म होना काफी चिंता का विषय माना जा रहा है। गर्मी के मौसम में सुहेली नदी का नकउवा नदी की ओर रुख कर लेने से कई गांवों के खेतीहर इलाके भी बंजर होने की कगार पर पहुंच गये हैं क्योंकि जिस तरह से यहां भयानक सिल्ट फेंक रही है। तो कहीं न कहीं खेतीहर जमीनों में इसका जमावड़ा भी लग रहा है। तो आज नहीं कल यहां जमीनों के बंजर होने की आशंका लगातार बढ़ती दिखाई दे रही है।


उल्लेखनीय है कि दुधवा टाइगर रिजर्व में सैकड़ों सालों से बह रही सुहेली नदी को दुधवा की लाइफ लाइन कहा जाता है क्यों कि नदी पूरी तरह से दुधवा को छूती हुई गुजरती है और इसका पानी दुधवा के जंगल में स्वच्छंद विचरण करने वाले करीब 50 प्रतिशत वन्यजीव यहां पानी पीते थे। लेकिन अब हालात पूरी तरह से बदल चुकें हैं ।क्योंकि पलिया दुधवा मार्ग पर बने पुल से करीब पांच किलोमीटर पहले नदी ने मुख्य धारा में सिल्टिंग शुरू कर उसे पाट दिया और एक मोड़ लेकर नकउवा नाले में जा पहुंची। नाले का इतना बड़ा स्वरूप नहीं है कि वह अपने ऊपर से एक नदी को गुजार सके।


आलम यह हुआ कि नदी ने अपनी जगह बनाते हुए कई गांवों के खेती वाले इलाके को अपनी बालू से पाटना शुरू कर दिया है। इससे हजारो एकड़ कृषि भूमि बंजर होने के कागार पर भी आ खड़ी हुई है। जहां किसान इससे भूमि हीन हो रहे हैं वहीं वन्यजीवों की प्यास पर भी ग्रहण लग गया है। सुहेली नदी का वजूद एक दम या फिर अचानक नहीं खत्म हुआ है बल्कि यह सब धीरे धीरे हो पाया है लेकिन जिम्मेदारों ने इस पर गौर करना मुनासिब ही नहीं समझा और सबकुछ जानने और समझने के बावजूद वह खामोश रहे और उन्होने कुछ भी नहीं किया।


सबसे बड़ा सवाल यह सामने आ रहा है कि इसके लिए सालों पहले बजट भी मिला था लेकिन कागजों पर काम दिखाकर जिम्मेदारों ने चुप्पी साध ली ।दूसरी और जहां दुधवा टाइगर रिजर्व विश्व में अपनी अलग पहचान रखने वाला जहां न जाने कितने ही दुलर्भ वन्यजीवों की भरमार है और उनके संरक्षण के लिये करोड़ो रुपया व्यय किया जा रहा है लेकिन वही वन्यजीवों को प्यास से व्याकुल होकर पानी की तलाश में दर दर भटकना अपनी अलग कहानी भी बया कर रहा हैं और वह एक शर्मनाम बात भी है जिस पर गौर करना लाजमी बन चुका है।


वन्यजीवों की प्यास बुझाने के लिये बनाये जाते है वाटर हाल देखा जाये तो हमारा पार्क प्रशासन अपनी बड़ी कमियों को नजर अंदाज कर छोटी चीजों को ज्यादा ध्यान भी रखता है जिससे कि लोग उन पर किसी तरह की उंगली न उठा सके। दरअसल गर्मी में वन्यजीवों की प्यास बुझाने के लिए कुछ जगहों पर वाटर हाल बनाकर पानी की पूर्ती की जाती है लेकिन वह बस कुछ समय के लिये ही नजर आती होगी क्योंकि तेज धूप और गर्मी के चलते वहां पानी ज्यादा समय तक रूकना अंसभव सा ही लगता है। देखा जाये तो इन छोटे छोटे कार्यों को न कर यदि नदियों पर ध्यान दिया जाये तो बेहतर होगा।


नदी के समीपवर्ती इलाकों से बाहर निकलने पर मजबूर होगें दुलर्भ वन्य जीव सुहेली नदी में पानी नहीं होने से वहां के समीपवर्ती जंगल में रहने वाले वन्यजीव पानी की तलाश में बाहर आने के लिये मजबूर होगे और उनके ऐसा करने से उनके जीवन पर भी संकट के बादल मंडराते रहते हैं क्योंकि जंगल से बाहर आने के बाद वह बाहर ही रह जाते हैं और उनका यहां रहना वन्यजीव मानव संघर्ष को बढ़ा रहा है। जिसमें हिलन चीतल पाढ़ा आदि तो बाहर आना आम बात हो जाती है।


सुहेली नदी के वजूद मिटने पर वन्यजीव प्रमियों में ख़ासा रोष उधर सुहेली नदी के वजूद मिटने पर वन्यजीव प्रमियों में पारक प्रशासन के खिलाफ खाशा रोष दिखाई देने लगा है उनका कहना है यदि सुहेली नदी की सिल्ट सफाई होने पर ध्यान दिया जाता तो आज नदी का वजूद नहीं मिटता और वन्यजीवों को प्यास बुझाने के लिये दर दर नहीं भटकना पड़ता।


जब दिल्ली जली, गृहमंत्री कहाँ थे ?

नई दिल्ली। उत्तरी-पूर्वी दिल्ली हिंसा को लेकर शिवसेना ने गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधा है। पार्टी ने गृहमंत्री से सवाल पूछा है कि जब दिल्ली जल रही थी, लोग जब आक्रोश व्यक्त कर रहे थे तब गृहमंत्री अमित शाह कहां थे? क्या कर रहे थे? शिवसेना ने मुखपत्र 'सामना' के जरिए कहा कि दिल्ली के दंगों में अब तक 39 लोगों की मौत हो गई है और सार्वजनिक संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचा है। मान लें केंद्र में कांग्रेस अथवा दूसरे गठबंधन की सरकार होती और विरोधी सीट पर भारतीय जनता पार्टी का महामंडल होता तो दंगों के लिए गृहमंत्री का इस्तीफा मांगा गया होता।


शिवसेना ने कहा कि गृहमंत्री के इस्तीफे के लिए दिल्ली में मोर्चा व घेराव का आयोजन किया गया होता। राष्ट्रपति भवन पर धावा बोला गया होता। गृहमंत्री को नाकाम ठहराकर ‘इस्तीफा चाहिए!’ ऐसी मांग की गई होती। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा क्योंकि भाजपा सत्ता में है और विपक्ष कमजोर है। फिर भी सोनिया गांधी ने गृहमंत्री का इस्तीफा मांगा है। देश की राजधानी में 39 लोग मारे गए उनमें पुलिसकर्मी भी हैं और केंद्र का आधा मंत्रिमंडल उस समय अहमदाबाद में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप को सिर्फ ‘नमस्ते, नमस्ते साहेब!’ कहने के लिए गया था। केंद्रीय गृहमंत्री व उनके सहयोगी अहमदाबाद में थे, उसी समय गृहविभाग के एक गुप्तचर अधिकारी अंकित शर्मा की हत्या दंगों में हो गई। लगभग 3 दिनों बाद प्रधानमंत्री मोदी ने शांति बनाए रखने का आह्वान किया। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोबाल चौथे दिन अपने सहयोगियों के साथ दिल्ली की सड़कों पर लोगों से चर्चा करते दिखे, इससे क्या होगा? जो होना था वो नुकसान पहले ही हो चुका है। सवाल ये है कि इस दौर में हमारे गृहमंत्री का दर्शन क्यों नहीं हुआ? देश को मजबूत गृहमंत्री मिला है लेकिन वे दिखे नहीं, इस पर हैरानी होती है।


कमजोर आर्थिक स्थिति का हवाला दिया

नई दिल्ली। दूरसंचार कंपनी ने अपनी कमजोर आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए सरकार से किस्तों में भुगतान, लेवीज में कटौती और संकट में फंसे क्षेत्र के लिए फ्लोर प्राइस लागू करने की भी मांग की है। मुश्किलों से जूझ रही वोडाफोन आइडिया ने कहा कि सरकार की मदद के बिना वह समायोजित सकल राजस्व का पूरा बकाया चुकाने में असमर्थ है। वोडाफोन आइडिया ने इस संबंध में दूरसंचार विभाग और दूरसंचार मंत्रालय को पत्र भेजा है। कंपनी का यह कदम इसलिए भी अहम है, क्योंकि उसे दूरसंचार विभाग को 53 हजार करोड़ रुपये का बकाया चुकाना है। इसमें से वह अभी तक महज सात फीसदी का ही भुगतान कर सकी है। वोडाफोन आइडिया ने कहा, उसकी वित्तीय स्थिति अच्छी नहीं है। कंपनी उसी स्थिति में अपनी देनदारियां चुका पाएगी, यदि उसे ब्याज, जुर्माने सहित बाकी का भुगतान किस्तों में करने की अनुमति दी जाए। कंपनी ने सरकार से जीएसटी क्रेडिट के समायोजन की भी मांग की, इससे एजीआर का भुगतान करने में मदद मिल सकती है। पिछले कुछ साल में हुए घाटे का हवाला देते हुए कंपनी ने कहा कि दूरसंचार क्षेत्र का वित्तीय संकट किसी से छिपा हुआ नहीं है। कंपनी ने अपने मौजूदा 30 करोड़ ग्राहकों और 10 हजार कर्मचारियों का उल्लेख करते हुए सरकार की तरफ से तुरंत सहयोग की भी गुहार लगाई। वोडाफोन आइडिया ने कहा कि वह अपने आकलन वाले मूल धन का निबटारा कर सकती है, यदि केंद्र की ओर से उसे जीएसटी क्रेडिट के मद में सरकार के पास पड़े 8,000 करोड़ रुपये को इसमें शामिल करने की अनुमति दी जाए।


हिंसा में 38 की मौत, 200 लोग घायल

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के मुद्दे को लेकर हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 38 हो गई है। इसमें गुरु तेग बहादुर अस्पताल में 34 लोगों की लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में तीन तथा एक व्यक्ति की जग प्रवेश चंद अस्पताल में मौत हो गई। इस इलाके में तीन दिनों तक हुई हिंसक वारदातों में लगभग 200 लोग घायल हुए हैं, जिसमें से कई लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। फिलहाल हालात नियंत्रण में है और जांच के लिए क्राइम ब्रांच के अंतर्गत एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है। बता दें कि दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी मनदीप सिंह रंधावा ने बताया कि हिंसाग्रस्त इलाकों में समुचित संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात करने के बाद हालात नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि 48 प्राथमिकी अब तक दर्ज की जा चुकी है और तथ्यों की जांच करने के बाद और मामले दर्ज किये जाएंगे। एक हजार से अधिक सीसीटीवी फुटेज मिले हैं, जिसकी जांच की जा रही है। अब तक 106 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। उन्होंने कहा कि इलाके में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए दिन-रात चौकसी बरती जा रही है।


आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को आरक्षण

लखनऊ। यूपी विधानसभा में उत्तर प्रदेश लोक सेवा (आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण) विधेयक 2020 पारित हो गया। इससे आयोग की ओर से की जाने वाली भर्तियों में भी आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को दस प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा।


विधानसभा में गुरुवार को तीन विधेयक पारित किए गए। इसमें राज्य संपत्ति विभाग के नियंत्रणाधीन भवनों का आवंटन (संशोधन) विधेयक 2020, उप्र लोक सेवा (आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण) विधेयक 2020 और उत्तर प्रदेश माल और सेवा कर (संशोधन) विधेयक 2020 शामिल हैं। राज्य संपत्ति विभाग के नियंत्रणाधीन भवनों का आवंटन (संशोधन) विधेयक 2020 के पास होने से प्रदेश सरकार के विभिन्न उपक्रमों, निगमों के उपाध्यक्ष, सलाहकार और सदस्यों को राजधानी स्थित राज्य संपत्ति विभाग की ओसीआर बिल्डिंग में आवास आवंटित किया जा सकेगा।


वहीं, उप्र लोक सेवा (आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए आरक्षण) विधेयक 2020 के पास होने से उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की ओर से की जाने वाली भर्तियों में भी आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के अभ्यर्थियों को दस प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा।
विज्ञापन


'टैक्स छूट का दायरा 20 लाख से बढ़कर 40 लाख हो गया'
इसके अलावा उत्तर प्रदेश माल और सेवा कर (संशोधन) विधेयक 2020 के पारित होने से व्यापारियों को टैक्स छूट का दायरा 20 लाख से बढ़कर 40 लाख हो गया है।औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने कहा कि कम्पोजिट स्कीम में हर तीन महीने में रिटर्न भरने की बाध्यता समाप्त की जा रही है। अब केवल साल में एक बार रिटर्न भरना होगा और तिमाही पर टैक्स जमा क रना होगा।


वित्तमंत्री 'मनप्रीत बादल' का बड़ा ऐलान

राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। पंजाब के वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल विधानसभा में राज्य का 2020-21 का बजट पेश कर रहे हैं। अमरिंदर सरकार ने राज्य कर्मचारियों की रिटायरमेंट की उम्र 60 साल से घटाकर 58 साल करने की घोषणा की है। साथ ही, नई भर्ती भी तुरंत शुरू करने की बात कही है। राज्य सरकार ने पे-कमीशन की रिपोर्ट भी इसी साल लागू करने की बात कही है। इससे पहले मनप्रीत बादल के आवास के बाहर शिअद विधायकों ने घेरा डाला और इस कारण उनको विधानसभा पहुंचने में देरी हुई। इस दौरान बिक्रम मजीठिया को गिरफ्तार भी किया गया।


बजट पेश करते समय वित्त मंत्री ने कहा कि कर्मचारियों की रिटायरमेंट की उम्र घटाने से युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। वित्‍तमंत्री ने कर्मचारियों को इसके साथ ही राहत देने की भी घोषणा की। उन्‍होंने सरकारी कर्मियों को महंगाई भत्‍ते की बकाया किस्‍त 31 मार्च तक देने की घोषणा की। बजट में वित्‍तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने किसानों के लिए भी कई घोषणाएं कीं। मनप्रीत ने बजट ने कई लोकलुभावन घोषणाएं की हैं। सरकारी प्राथमिक स्‍कूलों में मुफ्त परिवहन सुविधा देने का भी ऐलान किया गया है। वित्‍त मंत्री ने कहा कि पंजाब के वेतन व्यय 25449 करोड़ रुपये से बढ़ कर 27639 करोड़ और पेंशन 10213 से बढ़ कर 12267 करोड़ रुपये हो जाएगा।


वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने कहा कि पंजाब का बजट पिछली बार से ज्यादा है। इस बार बजट 154805 के करोड़ रुपये का है। विभिन्‍न क्षेत्रों के लिए राशियों का प्रावधान किए हैं।


एशियाई बाजारों के साथ सेंसेक्स-निफ्टी गिरा

कोरोना ने मचाया कोहराम, एशियाई बाजारों के साथ सेंसेक्स और निफ्टी भी गिरा

मुम्बई। कोरोना का कहर दुनिया भर के शेयर बाजारों पर भारी पड़ रहा है। हफ्ते के अंतिम दिन बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स 1000 से ज्यादा अंक टूट गया है। सेंसेक्स में कारोबार की शुरुआत 658 अंक की गिरावट के साथ हुई थी। सुबह 9.39 बजे तक सेंसेक्स 1130 अंक टूटकर 38615 तक पहुंच गया।
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 251 अंक टूटकर 11,382.00 पर खुला है। दुनिया भर के बाजारों में कोरोना वायरस के प्रकोप का डर कायम है। शुक्रवार को चीन, जापान, दक्षणि कोरिया सहित कई एशियाई देशों के शेयर बाजारों को भारी नुकसान हुआ है।
गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने कोरोना की वजह से दुनिया में आर्थिक मंदी आने की चेतावनी दी है। इस हफ्ते दुनिया भर के शेयर बाजारों में 2008 की मंदी के साथ सबसे ज्यादा गिरावट देखने को मिल सकती है। सेंसेक्स के सभी शेयर लाल निशान में दिख रहे हैं। गिरने वाले प्रमुख शेयरों में टाटा मोटर्स, हिंडाल्को, टाटा स्टील, बजाज फाइनेंस, यस बैंक, गेल और एमऐंडएम शामिल रहे।


 


कहर बरपा रही है विदेशी मॉडल

नई दिल्ली। ब्रिटिश मॉडल व एक्ट्रेस डेमी रोज इन दिनों अपनी कुछ तस्वीरों के कारण छाई हुई हैं। सोशल मीडिया पर इन दिनोंउनकी बोहद बोल्ड तस्वीरें जमकर वायरल हो रही हैं। वैस तो रोज हमेशा ही अपनी बोल्ड एंड हॉट तस्वीरों के कारण सुर्खियों में रहती हैं। सोशल मीडिया पर उनके चाहने वालों की कमी नहीं है या यह कह लें कि सोशल मीडिया पर उनके फैंस की संख्या लगातार ही बढ़ती जा रही हैं। सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टाग्राम पर उन्होंने एक करोड़ से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं। रोज इंस्टा पर हमेशा एक्टिव रहती हैं और आए दिन अपनी तस्वीरें यहां शेयर करती रहती हैं। इसी क्रम में उन्होंने हाल ही में इंस्टा पर अपनी कुछ लेटेस्ट तस्वीरें शेयर की, जो देखते ही देखते सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं। बता दें, रोज के इंस्टाग्राम पर कई तस्वीरों के साथ, फैंस उनकी मॉडलिंग के बारे में जानना पसंद करते हैं और उनके लुक की सराहना भी करते हैं। रोज के 12.6 मिलियन से अधिक इंस्टाग्राम फॉलोअर्स हैं, जो उनकी हर पोस्ट पर लाइक्स, शेयर और कमेंट तो करते ही हैं, साथ ही साथ रोज से बात भी करना भी चाहते हैं। तो आइए, अब आपको दिखाते हैं रोज की वे 30 हॉट तस्वीरें, जिसमें उनका अंदाज देखते ही बन रहा है।



दुनिया के प्रदूषित शहरों में गाजियाबाद

एकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट-2019 के मुताबिक दुनिया के सर्वाधिक 30 प्रदूषित शहरों में से 21 भारत के हैं। वहीं टॉप 10 शहरों में भी भारत के 6 शहर शामिल हैं। गाजियाबाद दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर है। यह रिपोर्ट वायु प्रदूषण के संबंध में है। साल 2019 में गाजियाबाद की औसत वायु गुणवत्ता 110.2 रही। अमेरिका की पर्यावरण सुरक्षा एजेंसी के स्वास्थ्य मानकों के अनुरूप यह बेहद चिंताजनक है।
वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट-2019 का यह डेटा आईक्यूएआईआर के शोधकर्ताओं ने तैयार किया है। यह रिपोर्ट हर साल तैयार होती है। वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट-2018 की रिपोर्ट में दुनिया के टॉप-30 प्रदूषित शहरों में भारत के 22 शहर शामिल थे। वर्ल्ड एयर क्वालिटी रिपोर्ट-2019 के मुताबिक दिल्ली दुनिया की सबसे प्रदूषित राष्ट्रीय राजधानी है। साल 2019 में दिल्ली की औसत वायु गुणवत्ता 98.6 दर्ज की गई। भारत की राजधानी दिल्ली के कुछ इलाकों में नवंबर 2019 में वायु गुणवत्ता सूचकांक 800 के पार चला गया था। यानी वायु प्रदूषण का स्तर खतरनाक से भी तीन गुना ज्यादा था।


प्रशासन की सजग-सतर्कता आई काम

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। जनपद में सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। जनपद की शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रशासन स्तर पर किसी प्रकार की कोई कोर कसर नहीं छोड़ी जा रही है। किसी भी कीमत पर किसी भी हाल में संप्रदायिकता नहीं फैलने दी जाएगी। इसके लिए प्रशासन संकल्प बंद है। इसी कड़ी को आगे बढ़ाते हुए संवेदनशील लोनी तहसील क्षेत्र में शांति सभा का आयोजन किया गया। जिसका नेतृत्व उप जिला अधिकारी खालिद अंजुम के द्वारा किया गया। उन्होंने सभी जिम्मेदार नागरिकों से अपील करते हुए कहा किसी भी कीमत पर अपने सामाजिक सौहार्द को न बिगड़ने दे। जो लोग संप्रदायिकता के लिए कार्य कर रहे हैं। उनके विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई होगी।


गौरतलब हो जनपद को 16 जॉन मे बांटते हुए 59 सेक्टर मजिस्ट्रेट को नियुक्त किया गया है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी के द्वारा दिल्ली के सीमावर्ती लोनी का निरीक्षण किया एवं अधीनस्थ अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। वही क्षेत्राधिकारी एवं तीनों थानों के प्रभारी क्षेत्रों में मुस्तैदी से पुलिस बल के साथ गश्त कर रहे हैं।


मंदिर में प्रयोग शीलाओं की आयु हजार साल

राम मंदिर को स्वरुप देने वाली शिलाओं की आयु होगी एक हजार साल


सौरभ दुबे
अयोध्या। राममंदिर को लेकर लोगों में बहुत ही जादा उत्सुकता है। वहीं विहिप से जुड़े जानकारों की ओर से दावा किया जा रहा है कि राम मंदिर को स्वरूप देने वाली शिलाओं की आयु एक हजार वर्ष से अधिक रहेगी।
श्रीरामजन्मभूमि न्यास की ओर से मंदिर निर्माण के लिए राजस्थान के भरतपुर जिले के बंशी पहाड़पुर से विशेष किस्म के पिंक सैंड स्टोर को मंगा कर कार्यशाला में उनकी तराशी कराई गई है। गुलाबी रंग का यह पत्थर दिखने में ही काफी मोहक है। मंदिर निर्माण के लिए पत्थर तराशी का कार्य 65 फीसद हो चुका है, लेकिन अभी भी मंदिर की ऊपरी छत और शिखर आदि हिस्सों के लिए पत्थरों की तराशी होना बाकी है। इसके लिए एक लाख घन फीट पत्थरों की और जरूरत है। विहिप से जुड़े जानकारों के मुताबिक चार साल पहले संगठन की ओर से पत्थरों के बारे में अधिक से अधिक तथ्य प्राप्त करने के लिए इनकी लैब टेस्टिंग कराई गई थी, जिसके बाद यह बात सामने आई थी। न्यास कार्यशाला में अब तक एक लाख घन फीट पत्थरों की तराशी हो चुकी है, जबकि इससे अधिक पत्थरों को अभी तराशा जाना है।
विहिप के मीडिया प्रभारी शरद शर्मा के मुताबिक, राम मंदिर का निर्माण न्यास के मॉडल के अनुरुप ही रहेगा। राममंदिर निर्माण में प्रयुक्त होने वाले पत्थरों की आयु को लेकर कुछ साल पहले टेस्टिंग कराई गई थी। जिसमें पत्थरों की आयु एक हजार साल है ऐसी बात सामने आई थी।


बांग्लादेशी विद्यार्थी को 'भारत छोड़ो' नोटिस

कोलकाता। विदेशियों के क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय, कोलकाता ने “भारत सरकार विरोधी गतिविधियों में संलग्न” होने के आरोपों में, विश्व भारती विश्वविद्यालय के एक छात्र, बांग्लादेश राष्ट्रीयता अफसरा ए मीम को भारत छोड़ने का “लीव इंडिया” नोटिस दिया है। उन्हें फरवरी 29 तक भारत छोड़ने के लिए कहा गया है; अफसरा ए मीम पर आरोप है कि 8 फरवरी को CAA के विरोध प्रदर्शन में भाग लिया था।


एमपी बनेगा देश का हॉर्टिकल्चर कैपिटल

भोपाल। मुख्यमंत्री  कमल नाथ ने कहा है कि राज्य सरकार ने मध्यप्रदेश को देश का हार्टिकल्चर कैपिटल बनाने का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि उद्यानिकी किसानों की समृद्धि के द्वार खोलने वाला क्षेत्र है। यही कृषि का भविष्य भी है। श्री कमल नाथ ने कहा कि नाबार्ड को हार्टिकल्चर के क्षेत्र में ऋण देने का अनुमान 6 प्रतिशत से बढ़ाकर कम से कम 15 प्रतिशत रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में बड़ी मात्रा में अनुपयोगी पड़ी राजस्व भूमि का उपयोग उद्यानिकी क्षेत्र के विस्तार में किया जा सकता है। मुख्यमंत्री मंत्रालय में नाबार्ड द्वारा आयोजित राज्य ऋण संगोष्ठी 2020-21 में स्टेट फोकस पेपर का विमोचन कर रहे थे। नाबार्ड ने प्रदेश के लिये 1,98, 786 करोड रूपये के ऋण का आकलन किया है। यह पिछले साल से 13 प्रतिशत ज्यादा है।


 
कृषि में भी नई सोच से काम करने की आवश्यकता


मुख्यमंत्री ने कहा कि अब कृषि क्षेत्र में भी नई दृष्टि और नई सोच के साथ काम करने की आवश्यकता है। पूरा दृश्य बदल रहा है। पहले छोटे दानों जैसे कोदो-कुटकी, ज्वार-बाजरा पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया जाता था। आज इन फसलों की प्राथमिकता है। पहले यह गरीबों की खाद्य सामग्री मानी जाती थी। अब ये फसलें पोषक तत्वों के कारण सर्वाधिक उपयोगी साबित हो रही हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नाबार्ड के पास वर्षों का संचित अनुभव और बौद्धिक क्षमता है । इसका उपयोग भविष्य में निर्मित होने वाले परिदृश्य में ज्यादा कारगर होगा। उन्होने कहा कि नाबार्ड को न सिर्फ वर्तमान बल्कि 2024-25 की योजना भी अभी से तैयार करना पड़ेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज जो स्थितियाँ हैं, वो पाँच साल बाद बदल जाएंगी। आज तय किए गए लक्ष्य आसानी से पूरे हो जाएंगे लेकिन भविष्य की दृष्टि से नए लक्ष्यों की चुनौती को भी स्वीकार करना होगा। उन्होने कहा कि नाबार्ड ने मध्यप्रदेश और देश के कृषि अधोसंरचना निर्माण में अभूतपूर्व योगदान दिया है। नाबार्ड ने जो ज्ञान अर्जित किया है, उसका उपयोग हमें भविष्य में अपनी सोच को विस्तार देने में करना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश के लिए जो प्लान बनाये हैं, वे देश के लिए भी उपयोगी होंगे।
कृषि को बनाना होगा आधुनिक
मुख्यमंत्री ने कहा कि सबसे बड़ी चुनौती युवाओं की बेरोजगारी है क्योंकि वे शहरों और गांवों के बीच भटक रहे हैं। उनहोने कहा कि युवाओं को नई तकनीक और तकनीकी कौशल से जोड़ना होगा। प्रदेश की कृषि को आधुनिक बनाना होगा।
कृषि क्षेत्र के उभरते बाजार पर पैनी नजर
मुख्यमंत्री ने कहा कि नाबार्ड को अब फसलों के निर्यात पर भी ध्यान देना होगा। कृषि क्षेत्र के भीतर उभरते बाजार पर भी पैनी नजर रखना होगी। उन्होंने कहा कि नाबार्ड अपनी विशेषता को सामान्य रूप से किए जाने वाले कार्यों में उपयोग न करें बल्कि खेती की नई तकनीकों पर ध्यान दे। वेयर हाऊस निर्माण और उपार्जन की अधोसंचानाओं के निर्माण पर भी ध्यान दे। इसके अलावा, यह भी विचार करे कि कौन सी उपयोगी अधोसंरचनाएं बन सकती हैं और बनना चाहिए । उन्होंने कहा कि एक-दो दशक पहले नाबार्ड की भूमिका सिर्फ रि-फाईनेंसिंग तक सीमित थी। आज इसे अपनी भूमिका को भी विस्तार देने की आवश्यकता है।
नाबार्ड ने मध्यप्रदेश में वर्ष 2020-21 के लिए 1,98,786 करोड़ रूपए की ऋण की संभावना का आकलन किया है। यह पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 13 प्रतिशत ज्यादा है। पिछले साल यह राशि 1,74, 970 करोड़ थी। इस ऋण अनुमान में फसलीय ऋण पर 1,03,005 करोड़ रूपए और टर्म लोन पर 44,982 करोड़ रूपए ऋण अनुमान है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमियों के लिए लगभग 32,001 करोड़ और प्राथमिकता क्षेत्र जैसे निर्यात ऋण, शिक्षा, आवास, नवकरणीय ऊर्जा और अन्य सामाजिक बुनियादी ढ़ाँचे पर 18,797 करोड़ रूपए ऋण देने का अनुमान है।
नाबार्ड के मुख्य महाप्रबंधक  एस के बंसल ने विभिन्न क्षेत्रों में विकास की संभावना पर प्रकाश डालते हुए बैंकों से महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का आह्वान किया। उन्होंने प्रदेश के 100% किसानों तक केसीसी कवरेज बढ़ाने, ग्रामीण बुनियादी ढांचे में निवेश और कृषि उत्पादक समूहों के वित्त पोषण के प्रयास करने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने ग्रामीण आधारभूत संरचना विकास निधि (आरआईडीएफ) और दीर्घकालिक संचय निधि ( एलटीआईफ) के तहत राज्य सरकार को दिए गए रु 26000 करोड़ के ऋण और इससे होने वाले लाभ की भी चर्चा की। प्रदेश के 21 जिलों में स्व- सहायता समूहों के लिये ई-शक्ति परियोजना की जानकारी देते हुए बताया कि इससे प्रदेश के 25000 समूहों के लगभग ढाई लाख परिवारों को लाभ मिलेगा।
मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर उत्कृष्ठ प्रदर्शन करने वाले किसान उत्पादक संगठनों को सम्मानित किया। इस अवसर पर राज्य शासन और नाबार्ड के वरिष्ठ अधिकारी एवं लीड बैंकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।


यूपी बोर्डः मोबाइल ना लांए परीक्षार्थी

लखनऊ। यूपी के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने सभी जिलों को चेताया है कि 29 फरवरी को हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की विज्ञान व गणित की परीक्षा है लिहाजा सतर्क रहे। अधिकारी सचेत रहे और मॉनिटरिंग दुरुस्त रखें। परीक्षा खत्म होने से आधे घण्टे पहले भी यदि पर्चा वायरल हुआ तो उसे पेपर आउट होने की श्रेणी में रखा जाएगा। मुख्य सचिव ने गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग कर सभी जिलाधिकारियों के साथ यूपी बोर्ड परीक्षाओं की समीक्षा करते हुए ये निर्देश दिए। 


मऊ, बलिया, कौशांबी, गाजीपुर, बस्ती से नकल, पेपर वायरल आदि की घटनाओं के मद्देनजर मुख्य सचिव ने इनके समेत शाहजहांपुर, बलिया, मथुरा, प्रयागराज, देवरिया आदि के जिलाधिकारियों से अलग-अलग बात की। उन्होंने कार्रवाइयों और एफआईआर का ब्यौरा पूछा। देवरिया के डीएम द्वारा यह कहने पर कि वहां कोई नकल की घटना नहीं हुई तो उस पर मुख्य सचिव ने बताया कि बलिया में जो पेपर व्हाट्सऐप पर वायरल (आउट) हुआ, उसका स्रोत देवरिया में है। इसकी जांच कराएं। बलिया में भौतिक विज्ञान इंटरमीडिएट का पेपर वायरल हो गया, वहीं अंग्रेजी की परीक्षा के दिन लिखी हुईं कॉपियां परीक्षा शुरू होते ही वायरल हो गईं। उन्होंने कहा कि परीक्षा केन्द्र पर पर्चा शुरू होने से एक घण्टा पहले से लेकर पर्चा खत्म होने के आधा घण्टा बाद तक मोबाइल बंद रखा जाए। केन्द्र के अंदर कोई भी स्मार्ट फोन लेकर न जाए। 


विभागीय प्रमुख सचिव अराधना शुक्ला ने कहा कि परीक्षा केन्द्रों के सीसीटीवी के साथ वॉयस रिकार्डर भी काम करें, ये जरूर चेक करें।  जांच के समय यह भी देखा जाये कि स्ट्रांग रूम में लगे कैमरे की दिशा स्ट्रांगरूम व अलमारी की ओर हो।



क्रैनबेरिज खाने के 10 फायदे

सेब, केला, संतरा, अनार, पपीता- ये कुछ ऐसे फल हैं जिन्हें आप हर सीजन में खाते हैं और इन्हें खाने के फायदों के बारे में तो हम सब जानते हैं। लेकिन हम आपको बता रहे हैं उन फ्रूट्स के बारे में जिनके बारे में कम लोग जानते हैं लेकिन अपने औषधीय गुणों की वजह से सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है। ऐसा ही एक फल है क्रैनबेरी। लाल रंग का ये बेहद छोटा लेकिन टेस्टी फल क्रैनबेरीज, न्यूट्रिएंट्स का पावरहाउस है। आपने क्रैनबेरी का जूस तो जरूर पिया होगा और शायद सॉस भी खाया हो लेकिन अब क्रैनबेरी को फल के तौर पर अपने डेली डायट में शामिल करने का समय आ गया है। इस फल को खाने के कितने फायदे हैं, यहां जानें। 
यूटीआई की समस्या दूर करती है क्रैनबेरी
यूटीआई यानी यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की समस्या दूर करने में फायदेमंद मानी जाती है क्रैनबेरीज और महिलाओं सालों से इसका इस्तेमाल करती आ रही हैं। इस बार में अब तक हो चुकी बहुत सी रिसर्च में यह बात साबित भी हो चुकी है कि हर दिन क्रैनबेरीज खाने या इसका जूस पीने से यूरिन इंफेक्शन की समस्या को दूर किया जा सकता है। क्रैनबेरीज में पीएसी नाम का तत्व पाया जाता है तो बैक्टीरिया को यूरिनरी ट्रैक्ट में चिपकर इंफेक्शन फैलने से रोकता है।
कैंसर सेल के विकास को रोकता है
रिसर्च में यह बात भी साबित हो चुकी है कि क्रैनबेरीज में मौजूद फाइटोकेमिकल्स ट्यूमर या कैंसर के सेल्स को बढऩे से रोकता है जिससे ब्रेस्ट कैंसर, कोलोन कैंसर, लंग कैंसर जैसी बीमारियों को बढऩे से रोका जा सकता है। इतना ही नहीं, क्रैनबेरीज को अपनी डेली डायट में शामिल करने से बहुत तरह के कैंसर को होने से भी रोका जा सकता है। क्रैनबेरी में ऐंटी-कार्सिनोजेनिक कम्पाउंड पाया जाता है जो शरीर में कैंसर के सेल्स को बढऩे से रोकता है। 
आंतों को हेल्दी बनाने में मददगार
गट यानी आंतों में मौजूद गुड बैक्टीरिया को बढ़ाने और हानिकारक बैक्टीरिया को दूर करने में मदद करती है क्रैनबेरीज। शरीर में मौजूद गट बैक्टीरिया का बैलेंस बना रहना जरूरी है ताकि भोजन में मौजूद फायदेमंद कंपाउंड को निकालकर शरीर तक पहुंचाया जा सके और पेट खराब होने से बच जाए। साथ ही साथ क्रैनबेरीज में मौजूद पीएसी एक और तरह के बैक्टीरिया को दबाने में मदद करता है जो पेट में अल्सर के लिए जिम्मेदार होता है। 
किडनी स्टोन की समस्या होगी दूर
क्रैनबेरीज में क्वीनिक ऐसिड के साथ-साथ कई दूसरे पोषक तत्व भी पाए जाते हैं जो किडनी में स्टोन होने की समस्या से रोकता है। साथ ही किडनी को डिटॉक्स करने में भी मदद करता है ताकि किडनी की सही तरीके से सफाई हो पाए।
मुंह की बीमारियां रहें दूर
अगर आप चाहते हैं कि आप हर तरह के डेंटल प्रॉब्लम से दूर रहें आपकी सांस हमेशा ताजी बनी रहे और मुंह या सांस से बदबू की समस्या का सामना न करना पड़े तो क्रैनबेरीज खाना शुरू कर दें। क्रैनबेरी में प्रोऐन्थोसाइनिडिन पाया जाता है जो मुंह में प्लाक, कैविटीज और मसूड़ों से जुड़ी बीमारी फैलाने वाले बैक्टीरिया को रोकने में मदद करता है। 
दिल से जुड़ी बीमारियां नहीं होती
क्रैनबेरीज में पॉलिफेनॉल्स भी पाया जाता है और यह एक ऐसा तत्व है तो कार्डियोवस्कुलर डिजीज यानी दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद करता है। 2019 में हुई एक स्टडी में यह बात साबित हो चुकी है कि अगर डायट में क्रैनबेरीज को शामिल किया जाए तो दिल से जुड़ी बीमारी होने का खतरा काफी कम हो जाता है। साथ ही साथ ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रखने में मदद मिलती है।
कलेस्ट्रॉल की समस्या होगी दूर
क्रैनबेरीज का सेवन करने से शरीर का बीएमआई भी कम होता जिससे शरीर में गुड कलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ता है और बैड कलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद मिलती है। साथ ही साथ ब्लड शुगर का लेवल भी कंट्रोल में रहता है। आप चाहें तो क्रैनबेरीज का जूस या पाउडर का सेवन भी कर सकते हैं। 
इन्फ्लेमेशन की समस्या होगी दूर
इन्फ्लेमेशन यानी सूजन-जलन बहुत सी बीमारियों की मुख्य वजह होती है। कैंसर, आर्थराइटिस, डायबीटीज ये सब शरीर में इन्फ्लेमेशन होने की वजह से ही होता है। ऐसे में ऐंटी इन्फ्लेमेट्री फूड खाने से इन्फ्लेमेशन को कम करने में मदद मिलती है और क्रैनबेरी ऐसा ही एक फूड है जिसमें पॉलिफेनॉलिक कम्पाउंड पाया जाता है जो कैंसर और हार्ट डिजीज समेत कई बीमारियों को रोकने में मदद करता है। 
वेट लॉस में मददगार
क्रैनबेरीज में ऐंटिऑक्सिडेंट्स की मात्रा भी भरपूर होती है और इस वजह से शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद मिलती है। साथ ही साथ फैट भी कम होने लगता है जिससे वेट लॉस में मदद मिलती है। साथ ही क्रैनबेरीज में ढेर सारा फाइबर भी होता है इसलिए इसे खाने के बाद लंबे समय तक आपका पेट भरा हुआ महसूस होता है और आपको भूख भी नहीं लगती।


थकान 15 मिनट में हो जाएगी छूमंतर

दिनभर की थकान दूर करने के लिए हम ऐसा क्या करें कि तुरंत मानसिक और शारीरिक थकान से मुक्ति पा सकें? इस सवाल के जवाब में हेल्थ और फिटनेस एक्सपर्ट गौतम कहते हैं – शवासन कीजिए। सबसे आसान और बेहद असरदार है शवासन योग। 
मानसिक तनाव से मुक्ति दिलाए
आज लगभग सभी लोग प्रेशर वाली लाइफ जी रहे हैं और मान चुके हैं कि असली जिंदगी यही है। लोग दिन-रात अपने सपनों के पीछे भाग रहे हैं और सपनों को जीने की चाह में जिंदगी जीना भूल रहे हैं। यहीं से हमारे जीवन में मानसिक तनाव हावी होने लगता है।
अटक गया है हमारा ब्रेन
हमारा ब्रेन हर समय ज्यादा से ज्यादा पाने में अटका रहता है। हम हर समय गैजेट्स में उलझे रहते हैं। घर की जरूरतों से लेकर ऑफिस का काम तक सब कुछ टेक्नॉलजी पर निर्भर हो गया है। किसी भी चीज का उपयोग यदि अति में करते हैं तो उसके नकारात्मक प्रभाव भी हमें देखने को मिलते हैं। यही वजह है कि आज गैजेट्स और टेक्नॉलजी हमें मानसिक रूप से बीमार बना रहे हैं।
फोकस की कमी दूर करे
सिटिंग और कंप्यूटर बेस्ड जब होने के कारण हमें मेंटल रेस्ट नहीं मिल पाता है। यही वजह है कि हम विचलित रहते हैं, किसी भी एक काम पर फोकस नहीं रह पाते, ऐंग्जाइटी बढ़ रही है। इन सभी तरह की दिक्कतों से निजात दिलाने में शवासन बहुत अधिक मददगार है।
लाइफ में बैलंस बढ़ाता है
मानसिक रूप से थके और बेचैन रहने के कारण हम अपनी लाइफ को बैलंस नहीं कर पाते हैं। लेकिन जिंदगी को बैलंस करना जरूरी है ताकि स्ट्रेस से बचे रहें। इसमें शवासन हमारी बॉडी के लिए बहुत अधिक लाभकारी रहता है। क्योंकि शवासन की मुद्रा में हमारा पूरा फोकस अपनी श्वास पर होता है, जिस कारण हमें मानसिक शांति मिलती है।
प्राकृतिक योग है शवासन
मेंटल फिजिकल और इमोशनल लेवल पर बैलंस के लिए योग बहुत अधिक आसान और इफेक्टिव तरीका है। खासतौर पर शवासन। शवासन की उत्पत्ति ही इसलिए हुई ताकि हमें रेस्ट मिल सके। प्राकृतिक रूप से हम सोते हुए भी इस अवस्था में ही होते हैं। यह मुद्रा हमारे शरीर की हर नर्व और सेल को प्रभावित करती है।
शरीर को रिलैक्स करे
शरीर को रिलैक्स करने के लिए शवासन इसलिए जरूरी है क्योंकि यह एक ऑटो सजेशन प्रॉसेस है, जब हम अपने आपको निर्देश देते हैं कि हमें शांत होना है। ऑटो सजेशन एक पॉवरफुल प्रॉसेस है जो बिल्कुल मेडिटेशन की तरह काम करती है। शवासन हमारी शारीरिक थकान उतारता है। गर्दन दर्द, सिरदर्द, ऐंग्जाइटी, कमर दर्द में राहत देता है।
शवासन करने का तरीका
शवासन करने के लिए आप किसी शांत जगह पर पीठ के बल सीधे लेट जाएं। इस दौरान आपके पैरों और हाथों को शरीर से उतनी दूरी पर रखें, जितनी दूरी पर आप सहज महसूस करें। आपकी हथेलियां आसमान की तरफ खुली हुई और आंखें बंद होनी चाहिए। 
श्वांस पर रहे ध्यान केंद्रित
शवासन के दौरान हमें सबसे अधिक लाभ तभी मिलता है, जब हम श्वांस को सहज बनाए रखते हैं। शवासन के दौरान धीरे-धीरे गहरी सांस लें और धीरे-धीरे छोड़ें। आपका ध्यान पूरी तरह अपनी श्वांस पर होना चाहिए। इस दौरान अपने शरीर को एकदम ढीला छोड़कर रखें।
हर रोज कितनी देर करें
हर रोज 10 से 15 मिनट किसी भी वक्त हम शवासन कर सकते हैं। यह कहिए कि जब भी आपको थकान महसूस हो आप इस योग मुद्रा को 10 से 15 मिनट के लिए कर लीजिए आपकी मानसिक और शारीरिक थकान तुरंत उतर जाएगी।
कैसे करता है काम?
शवासन हमारे शरीर की सभी मसल्स को शांत करता है। इस दौरान हम सहज अवस्था में होते हैं, जिससे पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है। गहरी सांस लेने से बॉडी में ऑक्सीजन की मात्रा अधिक पहुंचती है, जिससे ब्लड में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है और ब्रेन सहित पूरी बॉडी तनाव मुक्त होती है।
फिजिकल लेवल पर इसके फायदे
जब भी बहुत अधिक थकान महसूस होती है तो हम चाय पीने या स्मोक करने चले जाते हैं। यह हमें नुकसान पहुंचाता है। अगर उस वक्त हम शवासन करें तो हमें बहुत अधिक फायदा मिलेगा। अगर आपके ऑफिस में ऐसी कोई जगह नही है जहां आप इस आसन को कर सकें तो खुली और शांत जगह में बैठकर गहरी सांसें लें।


रोहित-अजय की सिंघम-3 की तैयारी

मुंबई। अजय देवगन के साथ सिंघम और रणवीर सिंह के साथ सिंबा जैसी हिट फिल्म देने के बाद रोहित शेट्टी इस फ्रैंचाइज़ी की तीसरी फिल्म सूर्यवंशी लेकर हाजिर हो रहे हैं, जिसमें लीड रोल में अक्षय कुमार नजर आनेवाले हैं। यह फिल्म अभी रिलीज़ भी नहीं हुई है, लेकिन ऐसा लग रहा है कि रोहित के दिमाग में इस फिल्म के बाद की प्लानिंग शुरू हो चुकी है।


हाल ही में रोहित शेट्टी से जब यह सवाल किया गया कि सूर्यवंशी के बाद उनकी कौन सी फिल्म होगी, जो पुलिस की दुनिया से जुड़ी होगी तो उन्होंने झट से जबाव देते हुए कहा कि अक्षय और कटरीना की इस फिल्म के बाद सिंघम का तीसरा इंस्टॉलमेंट लेकर आएंगे वह।
याद दिला दें कि साल 2011 की हिट फिल्म सिंघम में अजय देवगन नजर आए थे और यह फिल्म ब्लॉकबस्टर साबित हुई थी। इसकी सफलता को देखते हुए इसका सीच्ल भी रेडी हुआ और यह भी बॉ़क्स ऑफिस पर उतनी ही शानदार रही। सिंघम में एक ऐसे पुलिस ऑफिसर की कहानी दिखाई गई है, जो अपनी ईमानदारी का साथ कभी नहीं छोड़ता। इसके बाद आई साल 2014 में सिंघम 2, जिसका पंच लाइन आता माझा सटकली खूब पॉप्युलर भी हुआ।
अब जबकि रोहित की अगली फिल्म सूर्यवंशी अगले महीने रिलीज़ हो रही है और अजय देवगन की हालिया फिल्म तान्हाजी: द अनसंग वॉरियर बॉक्स ऑफिस पर तहलका मचा चुकी है तो ऐसे में इस हिट ऐक्टर और डायरेक्टर की जोड़ी को बॉक्स ऑफिस पर रोक पाना बेहद मुश्किल है। हमें इस फिल्म को लेकर ऑफिशल अनाउंसमेंट का बड़ी ही बेसब्री से इंतज़ार है।


सिद्धार्थ-आलिया के अफेयर की अफवाह

मुंबई। ऐक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा और ऐक्ट्रेस आलिया भट्ट ने 2012 में फिल्म स्टूडेंट ऑफ द इयर से अपने ऐक्टिंग करियर की शुरुआत की थी। इस दौरान दोनों ऐक्टर्स के अफेयर की अफवाह सुर्खियों में रहे थे। एक बार फिर से दोनों के फिल्म आशिकी 3 में रोमांस करने की खबरें आईं। वहीं, अब फिल्म डायरेक्टर मोहित सूरी ने फिल्म को लेकर बयान दिया है।
मोहित सूरी ने हाल ही में आशिकी 3 पर बात करते हुए कहा कि सिद्धार्थ मल्होत्रा उनके दोस्त हैं, लेकिन अभी फिल्म की कास्ट कन्फर्म नहीं की गई है। डायरेक्टर ने आगे कहा कि वह स्क्रिप्ट पर काम कर रहे हैं और इस पर काम शुरू करने से पहले इसे ठीक करने की जरुरत है। बता दें कि आलिया भट्ट के पिता महेश भट्ट आशिकी 2 के प्रड्यूसर्स में से एक थे और ऐसी चर्चा थी की ऐक्ट्रेस इस रोमांटिक फिल्म के थर्ड पार्ट में नजर आएंगी।


आलिया भट्ट इस समय रणबीर कपूर के साथ रोमांस को लेकर सुर्खियों में हैं। दोनों ऐक्टर्स अयान मुखर्जी की फिल्म ब्रह्मास्त्र में नजर आएंगे। वहीं चर्चा है कि इस फिल्म की दिसंबर में रिलीज के बाद दोनों शादी कर लेंगे। रणबीर कपूर आलिया भट्ट को अक्सर एक साथ देखा जाता है। हाल ही में दोनों स्टार्स अरमान जैन की शादी में एक साथ नजर आए थे। 
सिद्धार्थ मल्होत्रा इस समय अपनी अपकमिंग फिल्म शेरशाह में बिजी हैं। सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ फिल्म में कियारा आडवाणी और जावेद जाफरी दिखाई देंगे। विष्णुवर्धन के डायरेक्शन में बन रही यह फिल्म 3 जुलाई 2020 को रिलीज होगी। बताते चलें कि सिद्धार्थ मल्होत्रा और कियारा आडवाणी के अफेयर की भी खबरें आती रहती हैं।


आप पार्षद ताहिर पर हत्या का केस दर्ज

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में बीते दिनों हुई हिंसा के बाद आप पार्षद ताहिर हुसैन पर शिकंजा कसता जा रहा है। ताहिर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। यह एफआईआर दयालपुर पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 302 के तहत दर्ज की गई है। आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा (26) के परिवार ने ताहिर हुसैन पर हत्या का आरोप लगाया है।
इससे पहले ताहिर हुसैन पर पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए उनकी फैक्ट्री को सील कर दिया था। यह फैक्ट्री दिल्ली के खजूरी खास इलाके में थी। बता दें कि दिल्ली में हुई हिंसा के बाद ताहिर का नाम सामने आया था। उनपर आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के आरोप के अलावा हिंसा फैलाने का भी आरोप लगा था। एक वीडियो में ताहिर हुसैन के घर की छत पर पेट्रोल बम,ऐसिड बम,गुलेल, पत्थर आदि दिखाई दिए थे।
आप पार्षद ने दंगों में और आईबी के कर्मचारी की हत्या में अपनी संलिप्तता से गुरुवार को इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा कि मुझे खबरों से पता चला कि एक व्यक्ति की हत्या का इल्जाम मुझ पर लगाया जा रहा है। ये झूठे और निराधार आरोप हैं। सुरक्षा की दृष्टि से मेरा परिवार और मैं पुलिस की मौजूदगी में सोमवार को ही अपने घर से चले गए थे।
वहीं, आम आदमी पार्टी के पार्षद ताहिर हुसैन पर दंगों में संलिप्त होने के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर केजरीवाल ने गुरुवार दोपहर कहा कि अगर दंगों में शामिल लोग आप से जुड़े पाए जाते हैं तो उन्हें दोगुनी सजा दी जाए। केजरीवाल ने कहा, ‘मेरे पास पुलिस नहीं है। इस तरह के दंगे होते हैं तो उसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए। चाहे बीजेपी, कांग्रेस या आप का नेता ही क्यों ना हो। चाहे मंत्रिमंडल में क्यों ना हो, सजा मिलनी चाहिए। उठाकर जेल में डालों चाहे हमारे वाले हों या उनके वाले हों। देश के साथ राजनीति करना बंद करो।’
दिल्ली हिंसा में मृतकों की संख्या और बढ़ी।
दिल्ली हिंसा में मृतकों की संख्या में गुरुवार को और इजाफा हुआ। मृतक संख्या गुरुवार को 38 पहुंच गई। हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में लोगों ने तीन दशक से अधिक समय में राजधानी में हुए सबसे भयावह दंगों के बाद अपनी जिंदगी को पटरी पर लाने के प्रयास तेज कर दिए। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर उत्तर पूर्व दिल्ली में रविवार से भड़के सांप्रदायिक संघर्ष का अंजाम इतना बुरा हुआ कि अब सड़कों पर चारों तरफ ईंट-पत्थर बिखरे हुए हैं, मकान, दुकानें जला दिये गये, लूटपाट की घटनाओं को अंजाम दिया गया।


सीएए पर पीछे नहीं हटेगी सरकार

देहरादन। नागारिकता संशोधन कानून (सीएए) पर दिल्ली में भड़की हिंसा पर केंद्रीय कानून एवं न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि केंद्र सरकार हर स्तर पर बातचीत कर रही है। भाजपा सरकार किसी भी गंभीर मसले का हल प्रेम से निकालने में यकीन करती है। सरकार सोए हुए लोगों को भी जगा सकती है, मगर सीएए पर जागकर भी सोने का स्वांग करने वालों का कुछ नहीं हो सकता।
केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद दून में इनकम टैक्स अपीलेट ट्रिब्यूनल की सर्किट बेंच का उद्घाटन करने देहरादून पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस के आरोप बेबुनियाद हैं। कांग्रेस कह रही है कि दिल्ली हाईकोर्ट के न्यायाधीश एस मुरलीधर ने सीएए को लेकर दिए जा रहे भाजपा नेताओं के भड़काऊ भाषण का संज्ञान लिया था।
लिहाजा, उन्हें बुधवार को आधी रात को आदेश कर हटा दिया गया। यह आरोप बेबुनियाद है और सच्चाई यह है कि सुप्रीम कोर्ट के कोलेजियम ने न्यायाधीश मुरलीधर के स्थानांतरण पर 12 फरवरी को ही अनुशंसा कर दी थी। अकेले मुरलीधर ही नहीं, बल्कि तीन और न्यायाधीशों का स्थानांतरण किया गया है। इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री ने कहा कि बार-बार की हार से कांग्रेस पार्टी का आचरण बन गया है कि सभी संस्थाओं पर हमले किए जाएं। कोर्ट के फैसले उनकी इच्छा के अनुकूल हैं तो ठीक है, नहीं तो उन पर सवाल खड़े करो। कांग्रेस की आदत बन गया है कि सीएजी, सीवीसी, आर्म फोर्सेस, इलेक्शन कमीशन पर बेबुनियाद टिप्पणी की जाए। भाजपा देश की न्यायपालिका की आजादी में विश्वास रखती है। कांग्रेस वह पार्टी है, जिसने इमरजेंसी के समय सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों के भी अधिकारों का हनन किया था। तब आजादी के पक्ष में आदेश देने वाले एक विद्वान न्यायाधीश को कई महीनों तक मुख्य न्यायाधीश नहीं बनने दिया था। कांग्रेस को चाहिए कि वह न्यायपालिका से संबंधित संवेदनशील मामलों में टिप्पणी करना बंद करे।


तेजस्वी-तेजप्रताप ने कैंटीन में लंच किया

पटना। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव बजट सत्र के दौरान विधानसभा में ज्यादा वक्त दे रहे हैं। सदन की कार्यवाही जब भोजन अवकाश के लिए स्थगित हुई तब तेजस्वी यादव विधानसभा की कैंटीन में लंच करने पहुंचे। तेजस्वी के साथ उनके बड़े भाई तेजप्रताप यादव भी कैंटीन पहुंचे। खास बात यह रही कि तेजस्वी और आरजेडी विधायकों के साथ-साथ जेडीयू के विधायक भी कैंटीन में नजर आए। 


विधानसभा कैंटीन में तेजस्वी यादव के साथ जेडीयू के विधायक अशोक सिंह और विनोद यादव भी नजर आए। अशोक सिंह औरंगाबाद के रफीगंज से विधायक हैं जबकि विनोद यादव शेरघाटी से जेडीयू के विधायक। कैंटीन में जदयू विधायकों के साथ तेजस्वी यादव हंसी मजाक करते नजर आए। आरजेडी विधायक शक्ति सिंह यादव, सुदय यादव, विजय प्रकाश भी कैंटीन में साथ साथ मौजूद रहे।


कैंटीन में बैठे तेजस्वी यादव ने चावल दाल के साथ-साथ आलू पनीर की सब्जी का आनंद लिया। तेजस्वी यादव बड़े चाव के साथ पापड़ और सलाद भी खाते नजर आए। तेजस्वी यादव जिस वक्त कैंटीन में बैठकर लंच कर रहे थे उसी वक्त कांग्रेस के विधायक आनंद शंकर भी वहां पहुंच गए। काफी देर तक तेजस्वी और तेजप्रताप के साथ इन विधायकों का हंसी मजाक करने का सिलसिला चलता रहा।
अनुराग गोयल


एनीमिया मुक्त भारत का संकल्प लिया

एक दिवसीय एनीमिया जागरूकता स्वास्थ्य शिविर सम्पन्न
बाबा साहब भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय की ओर से किया गया जागरूकता शिविर का आयोजन
रजनीकांत अवस्थी
शिवगढ़(रायबरेली)। शिवगढ़ क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र शिवगढ़ प्रांगण में बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय के तत्वाधान में मानव विकास एवं परिवार अध्ययन विभाग गृह विज्ञान की ओर से एनीमिया मुक्त भारत बनाने के उद्देश्य से 5 सदस्यीय प्रोफेसर दल व उनके साथ आए होम साइंस पर शोध कर रहे 55 छात्रों द्वारा एक दिवसीय एनीमिया जागरूकता स्वास्थ्य शिविर का भव्य आयोजन किया गया।


 जिसका शुभारम्भ बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय संकाय अध्ययन से मुख्य अतिथि के रुप में एडीजी पुलिस की पत्नी एवं प्रोफेसर सुनीता मिश्रा, विभागाध्यक्ष डॉ.यू.वी.किरन, डॉ. शर्मिला,डॉ.नीतू सिंह,डॉ. शालिनी अग्रवाल,स्वाती राय व सीएचसी अधीक्षक डॉक्टर एलपी सोनकर ने बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर पुष्पमाला चढ़ाने के बाद महिलाओं एवं आशा बहुओं को फल वितरित कर एनीमिया जागरूकता शिविर का शुभारम्भ किया। 


        आपको बता दें कि, जागरूकता शिविर को संबोधित करते हुए प्रोफेसर डॉ.सुनीता मिश्रा ने कहा कि एनीमिया महिलाओं एवं बच्चों के लिए बहुत ही घातक है जिससे बचने के लिए हरी सब्जियों फलों एवं पत्तियों वाली सब्जियों का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें। गांव में नि:शुल्क रूप से मिलने वाली सहजन की फलियों एवं उसकी पत्तियों का प्रयोग करें। गर्भावस्था के दौरान काले अंगूर, संतरे एवं केले का नियमित सेवन करें।


      क्षडॉ. नीतू सिंह ने कहाकि, हीमोग्लोबिन एक पदार्थ है जिससे हम खून की मात्रा डिफाइंड करते हैं। जो हमारे प्रोटीन और विटामिन सी के संयुक्त प्रयोग से आता है। आयरन के साथ-साथ हमें और कुछ तत्वों का भी ध्यान रखना है जिसमें प्रोटीन, विटामिन बी 12, फोलिक एसिड सब मिलाकर हमारी गुणवत्ता को बढ़ाएंगे। 


       होम साइंस की विभागाध्यक्ष डॉ. यूवी किरन ने अपने संबोधन में कहा कि हम लोग पानी की बोतल, दूध की पाउच आदि का प्रयोग करने के बाद प्लास्टिक को फेंक देते हैं जो हमारे वातावरण के लिए बहुत ही हानिकारक है जिसके प्रयोग से हमें बचना होगा। वहीं डॉ.शालिनी अग्रवाल ने महिलाओं एवं आशाओं को जागरूक करते हुए कहा कि माहवारी के दौरान युवतियों को नैपकिंस के प्रयोग एवं उसका डिस्पोज करना सिखाएं जिससे हमारा पर्यावरण स्वच्छ और सुरक्षित बना रह सके।


         डॉक्टर शर्मिला ने अपने संबोधन में कहा कि, कंगारू मदर केयर के विषय में जो सुनकर आए थे आज पता चला है कि शिवगढ़ कंगारू मदर केयर की मातृभूमि है, आज यहां आकर हम सभी अपने आपको गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।     वहीं स्वाती राय ने महिलाओं को जागरूक करते हुए कहा कि छोटे बच्चों के पेट में कीड़े होते हैं जिसके लिए एल्बेंडाजोल का प्रयोग करते हैं,जिसके प्रयोग से कीड़े समाप्त हो जाते हैं। पेट में जो कीड़े होते हैं वह रक्त को खत्म करते हैं, जिससे बच्चे एनीमिया का शिकार हो जाते हैं,वहीं 15 से 49 वर्ष तक की जो महिलाएं होती हैं उनका माहवारी के समय काफी ज्यादा रक्त बह जाता है, इस तरह से महिलाएं एनीमिया का शिकार हो जाती हैं। गर्भावस्था के दौरान काफी ज्यादा महिलाएं एनीमिया का शिकार हो जाती हैं। हमारे देश में 80 प्रतिशत महिलाएं एनीमिया से पीड़ित पाई गई हैं। 


      गर्भावस्था के दौरान मां की साथ की बच्चे को भी रक्त की जरूरत पड़ती है, इसलिए मां के शरीर में रक्त कणिकाओं की मात्रा तेजी से बढ़नी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है तो मां और बच्चा दोनों एनीमिया से ग्रसित होकर कमजोर हो जाते हैं। कभी-कभी तो दोनों की जान को भी खतरा हो जाता है। जिसके मुख्य लक्षण चक्कर आना, थकन महसूस होना, हृदय गति तेज हो जाना, सांस फूलना, आंखों के नीचे सूजन आ जाना आदि लक्षण है। जिसकी रोकथाम के लिए बच्चों को साफ-सफाई से रखें, घरों के आस-पास साफ सफाई रखें,पोषकयुक्त भोजन एवं हरी सब्जियों और फलों का प्रयोग करें।


प्रोफेसरों एवं शोधकर्ताओं ने सीइएल एव केएमसी को करीब से जाना
 शिविर के समापन पर अम्बेडकर विश्वविद्यालय के प्रोफेसर एवं शोधकर्ताओं ने सीएचसी शिवगढ़ में स्थित केएमसी लाउंज एवं शिवगढ़ राजमहल में स्थित कम्युनिटी एंपावरमेंट लैब सक्षम शिवगढ़ ऑफिस का विजिट किया। जहां सभी ने कम्युनिटी एंपावरमेंट लैब के कार्य एवं उद्देश्य को बखूबी व करीब से समझा साथ ही भविष्य में पुनः आने या अवसर मिलने पर साथ कार्य करने के लिए प्रेरित भी हुई।सभी ने सीइएल के कार्यों की प्रशंसा की साथ ही आश्चर्य भी किया कि ऐसा अंतरराष्ट्रीय कार्य शिवगढ़ जैसे क्षेत्र में हो रहा है। सभी ने एक वृहद कार्यक्रम पुनः शिवगढ़ में करने की इच्छा जाहिर की।
 इस दौरान भारी तादात में पुलिस बल मौजूद रहा।


फोर्स के साथ कस्बा क्षेत्र का मुआयना

भानु प्रताप उपाध्याय


शामली। पुलिस अधीक्षक एवं अपर पुलिस अधीक्षक द्वारा दिल्ली, अलीगढ में हुई हिंसक घटनाओं के दृष्टिगत क्षेत्राधिकारी कैराना, क्षेत्राधिकारी नगर, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली व प्रभारी निरीक्षक थाना आदर्शमण्डी, प्रभारी निरीक्षक थाना कैराना, वरिष्ठ उ0नि0 थाना कांधला मय फोर्स के साथ कस्बा कैराना क्षेत्र के चौक बाजार, ईदगाह रोड़, मैन रोड़, मौहल्ला विसातयान, मौहल्ला खेलकला, सर्राफा बाजार व भीड़-भाड़ वाले स्थानों तथा थाना कोतवाली क्षेत्र के विजय चौक, फव्वार चौक, भिक्की मोड़, गौशाला रोड़, बड़ी माता मन्दिर रोड़, कलन्दरशाह चौक, मौहल्ला नन्द प्रसाद, मौहल्ला बरखण्डी, नौकुआ रोड़,  तिमरशाह चौक, अजन्ता चौक, दिल्ली रोड़  पर पैदल गस्त कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया तथा क्षेत्रीय लोगों से आपसी भाईचारा और सौहार्द बनाये रखने एवं एक-दूसरे की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाली बात न कहने की अपील की । तथा व्हाट्सएप ग्रुप अथवा अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर फैलने वाली कोई भी सांप्रदायिक, हिंसात्मक, भडकाऊ, जाति धर्म से संबंधित पोस्ट  ऑडियो, वीडियो, अपलोड, लाईक व शेयर न करके इन्हे वायरल होने से रोकें । किसी भी सूचना या आपतकालीन स्थिति में तत्काल नजदीकी पुलिस स्टेशन, पुलिस चौकी व वरिष्ठ अधिकारियों को उनके सीयूजी नम्बर, आपात सेवा नम्बर 112 पर कॉल करके सूचना/शिकायत दर्ज कराएं । राष्ट्रीय एकता व अखण्डता एवं आपसी सौहार्द को प्रभावित करने वाले सन्देश, पोस्ट, वीडियो को सोशल मीडिया पर फैलाना, प्रचारित करना दण्डनीय अपराध है । जिसमें तत्काल गिरफ्तारी का प्रावधान है । अत: ऐसा करने से बचें ।


'बापू की कुटिया' निजी हाथों में सौंपी जाएगी

गोलू ठाकुर


रायपुर। राजधानी में सीनियर सिटीजन्स के लिये बनायी गयी बापू की कुटिया में अब ज़ुम्बा डांस, योगा और किटी पार्टी भी होगी. क्योंकि रायपुर स्मार्ट सिटी कंपनी इसके मेंटेनेंस का जिम्मा अब निजी हाथों में सौंपने जा रही है, जिसके बाद यहां बुजुर्गों के लिए केवल सुबह और शाम दो घंटे का ही वक्त रहेगा बाकी समय यहां योगा, आर्ट, डांस, जुंबा, किटी और चिल्ड्रेन पार्टी चलेगी। जिसके एवज में संचालक आयोजनकर्ता से इसकी फीस लेकर कुटिया का संचालन करेंगे।
फैसले से बुजुर्ग आहत
बापू की कुटिया में समय गुजारने वाले बुजुर्गों का कहना है कि सीनियर सिटीजन्स को ध्यान में रखकर स्मार्ट सिटी में एक ही जगह बनायी गयी थी, उसमें भी अब अन्य वर्गों का दखल होगा। इनका कहना है कि पहले ही स्मार्ट सिटी इसका सही मैनेजमेंट नहीं कर पा रही है और यहां किटी पार्टी जैसे आयोजनों से बापू की कुटिया को नुकसान भी पहुंचेगा।


गांधी की अवहेलना


बापू की कुटिया को निजी हाथों में सौंपे जाने और यहां किटी और चिल्ड्रेन पार्टी जैसी गतिविधियों के लिए इसे दिये जाने के फैसले को लेकर राजनीति भी शुरू हो गयी है। स्मार्ट सिटी के इस फैसले का विरोध करते हुए बीजेपी पार्षद मृत्युंजय दुबे ने कहा कि महात्मा गांधी के नाम से बापू की कुटिया बनायी गयी है, जिसे ठेके में देकर बापू का अपमान किया जा रहा है, जहां बुजुर्गों को केवल दो घंटे का ही समय मिलेगा बाकी समय ठेकेदार के अधीन रहेगा। इस मामले में स्मार्ट सिटी के एमडी सौरभ कुमार का कहना है कि बापू की कुटिया के मेंटेनेंस के लिए इसे संस्था को ठेके पर दिया जा रहा है। वहीं महापौर एजाए ढेबर का कहना है कि यहां कोई भी ऐसा कार्यक्रम नहीं होने देंगे जिससे बापू की अवहेलना हो।


कुटिया से गायब हो रही मनोरंजन की चीजें


शहर भर में रायपुर स्मार्ट सिटी कंपनी ने 27 बापू की कुटिया बनाई थी. लेकिन एक भी सही हालत में नहीं है और ज्यादातर जगहों से सामान गायब है। राजधानी में बापू की कुटिया चोरों के निशाने पर है। रायपुर में बुजुर्गों के आमोद-प्रमोद के लिए अगल-अलग जगहों पर 27 बापू की कुटिया बनाई गई थी जिसमें जगह करीब 3 लाख रुपये के एलसीडी टीवी, कैरम, रेडियो और मनोरंजन के साधन उपलब्ध कराए गए थे। लेकिन यहां चोरों ने अपना हाथ साफ कर लिया है। धीरे-धीरे कुटिया खाली हो गई है।


कराई जाएगी एफआईआर


राजधानी में जिन जगहों पर बापू की कुटिया बनाई गई थी उनमें से कटोरा तालाब, मोती बाग, देवेन्द्र नगर, टैगोर नगर समेत कई जगहों से सामान गायब हो चुके हैं। पूर्व महापौर और वर्तमान सभापति प्रमोद दुबे का कहना है कि अलग-अलग संस्थाओं ने इसे चलाने के लिए चाबी ली थी। लेकिन जब इसकी वर्तमान स्थिति देखी गई तब उन्होंने सामान गायब होने की बात कह दी। अब इस मामले में सूबे के पूर्व मेयर प्रमोद दुबे खुद एफआईआर दर्ज कराने की बात कह रहे हैं।


सही तरीके से हो देखरेख, इसके लिए पहल


सामान कब चोरी हुआ, कहां गायब हुआ, किसी को नहीं पता। इन सभी चोरियों में से कुछ ही मामले थाने में दर्ज किए गए और इन मामलों की भी जांच नहीं की गई। आशंका ये भी है कि काफी सामान इसे संचालन करने वाली समितियों ने ले लिए है, लेकिन उनसे भी पुछताछ नहीं की गई। अब मेयर एजाज ढेबर का कहना है कि बीजेपी शासन के समय बनाई गई बापू की कुटिया की देखरेख सही तरीके से नहीं की गयी। इसलिए ऐसी स्थिति बनी है हालांकि मेयर ने भी एफआईआर दर्ज कराने की बात कही है।


क्या कहती है आपकी ग्रह दशा

रायपुर। तारीख़ 28 फरवरी 2020, आज का पंचांग -विक्रम संवत – 2076, शक संवत – 1941, मास – फाल्गुन, तिथि – चतुर्थी, पक्ष – शुक्ल, दिन – शुक्रवार, सूर्योदय समय – 6:31, सूर्यास्त समय – 6:02, आज का राहुकाल – सुबह 10:30 से 12:00 तक।


 विशेष – भगवान गणेश व माँ लक्ष्मीजी की पूजा व दान करना श्रेष्ठ है..


आज का राशिफल-



1.. मेष राशि – आकस्मिक लाभ का योग ,वरिष्ठ जनों का सहयोग, संतान से कष्ट, वाहन से चोट लगने की संभावना।


2..वृष राशि – अपने कार्य क्षेत्र में प्रगति ,राजनीति का लाभ ,जीवन साथी के स्वास्थ्य की चिंता।


3.. मिथुन राशि- नेतृत्व क्षमता का विकास, कार्य परिवर्तन का योग, मित्रजनों से कष्ट, वाहन आदि से लाभ।


4..कर्क राशि- समय के साथ लाभ होगा ,पुराना पैसा मिलने की संभावनाएं , लेन देन के मामले में सावधानी रखें।


5..सिंह राशि- धन लाभ की संभावनाएं होंगी, प्रॉपर्टी आदि से खरीदी बिक्री संभव ,स्वास्थ्य का ध्यान रखें।


6..कन्या राशि – वाणी में कठोरता, अधीनस्थ लोगों का सहयोग, आकस्मिक धन लाभ ,यात्रा का योग।


7..तुला राशि.. परिवारिक सफलता व दायित्व अधिक, मित्र जनों का सहयोग करना पढ़ सकता है, प्रेम प्रसंग में लाभ।


8..वृश्चिक राशि – प्रेम प्रसंग में सावधानी, धन के मामले में सतर्क रहें ,पारिवारिक तनाव हो सकता है।


9.. धनु राशि – बच्चों संबंधित तनाव की स्थिति, खर्च की अधिकता, बुजुर्गों की सलाह लेना होगा, यात्रा संभव है।


10..मकर राशि – जीवन साथी के स्वास्थ्य व मनमुटाव की स्थिति ,कोर्ट कचहरी के मामले पर लाभ की स्थिति।


11..कुंभ राशि- परेशानी का अनुभव, खर्च की अधिकता ,यात्रा से लाभ, वाहन आदि का योग।


12..मीन राशि- धार्मिक आयोजन से लाभ ,यात्रा संभव ,पुरानी समस्याएं पुनः आ सकती है ,खर्च की अधिकता होगी।


सीएम भूपेश का उपभोक्ता मंत्री को पत्र

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मंत्री रामविलास पासवान को पत्र लिख कर इस वर्ष केंद्रीय पूल में चावल उपार्जन की मात्रा 24 लाख टन से बढ़ाकर 31 लाख टन करने की अनुमति प्रदान करने का अनुरोध किया है। उन्होंने लिखा है कि राज्य शासन एवं भारत सरकार के खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के एमओयू में राज्य में समस्त सरप्लस चावल भारतीय खाद्य निगम द्वारा उपार्जन किए जाने का प्रावधान है।


बघेल ने पत्र में लिखा है कि प्रदेश में खरीफ विपणन वर्ष (केएमएस) 2019-20 में 18.20 लाख किसानों से समर्थन मूल्य पर कुल 82.80 लाख टन धान का उपार्जन किया गया है। प्रदेश में धान उपार्जन एवं कस्टम मिलिंग चावल जमा करने का कार्य राज्य शासन एवं भारत सरकार खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के मध्य हुए एमओयू के अनुसार किया जाता है। राज्य में गत वर्ष किसानों का ऋण माफी किए जाने से खरीफ वर्ष 2019-20 में धान खरीदी हेतु पंजीकृत किसानों की संख्या में वृद्धि हुई है, लगभग 4 लाख कालातीत किसानों का ऋण माफ होने के कारण उनमें से अधिकतर के द्वारा इस वर्ष धान खरीदी के लिए पंजीयन कराया गया है, जिससे धान खरीदी की मात्रा गतवर्ष 80.38 लाख टन से बढ़कर 82.80 लाख टन हो गई है।


मुख्यमंत्री ने लिखा है कि खाद्य एवं नागरिक सार्वजनिक वितरण विभाग भारत सरकार के पत्र क्रमांक 3(17)/2019-PY.1 दिनांक 19 दिसम्बर 2019 में केएमएस 2019-20 में भारतीय खाद्य निगम में केन्द्रीय पूल अंतर्गत 24 लाख टन उसना चावल उपार्जन की अनुमति प्रदान की गई है। प्रदेश में केएमएस 2019-20 में कुल खरीदी 82.80 लाख टन धान से निर्मित होने वाले चावल 55.86 में से राज्य के द्वारा पीडीएस की आवश्यकता हेतु 25.40 टीएमटी चावल उपार्जन किया जावेगा। (सेंट्रल पुल 15.48 टीएमटी, स्टेट पूल 9.92 टीएमटी) एवं शेष 30.46 टीएमटी चावल सरप्लस होगा। इसमें से भारत सरकार द्वारा भारतीय खाद्य निगम में 24 टीएमटी चावल उपार्जन की अनुमति दिए जाने से कुल उपार्जित धान में से 73 टीएमटी धान का ही निराकरण संभव हो सकेगा एवं लगभग 9.80 टीएमटी धान (अनुपातिक चावल 6.66 टीएमटी) अनिराकृत स्थिति में रहेगा, इससे राज्य शासन पर लगभग राशि रूपए 1500 करोड़ का अतिरिक्त आर्थिक व्ययभार आएगा। बघेल ने लिखा है कि राज्य शासन एवं भारत सरकार खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के एमओयू की कंडिका 18 में समस्त सरप्लस चावल भारतीय खाद्य निगम द्वारा उपार्जन किए जाने का प्रावधान है। कृपया उपरोक्त स्थिति को ध्यान में रखते हुए केएमएस 2019-20 में भारतीय खाद्य निगम में चावल उपार्जन की मात्रा 24 लाख टन से बढ़ाकर 31 लाख टन किए जाने की अनुमति प्रदान करने का अनुरोध है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


फरवरी 29, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-202 (साल-01)
2. शनिवार , फरवरी 29, 2020
3. शक-1941,फाल्गुन - शुक्ल पक्ष, तिथि-षष्ठी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 06:54,सूर्यास्त 06:10
5. न्‍यूनतम तापमान 14+ डी.सै.,अधिकतम-23+ डी.सै., हल्की बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...