रविवार, 12 अप्रैल 2020

273 लोगों की मौत, 8447 संक्रमित

नई दिल्ली। भारत में कोरोनावायरस तेजी से पैर पसार रहा है। भारत में कोविड-19 (COVID-19) से अब तक 273 लोगों की मौत हो चुकी है और कोरोना संक्रमण के 8447 मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से रविवार को जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक, बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के कुल 918 नए मामले आए हैं और 31 लोगों की जान गई है। हालांकि, थोड़ी राहत वाली बात यह है कि इस बीमारी से अब तक 765 लोग ठीक हुए हैं। बता दें कि देश में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए 21 दिनों का लॉकडाउन किया गया और यह 14 अप्रैल तक रहेगा। लेकिन इस बीच देश में कोरोना की स्थिति को देखते हुए 30 अप्रैल तक लॉकडाउन का बढ़ाया जा सकता है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस पर बातचीत में लॉकडाउन बढ़ाने के विषय पर चर्चा की। पीएम मोदी ने संकेत दिए हैं कि लॉकडाउन को दो हफ्तों के लिए (30 अप्रैल तक) बढ़ाया जा सकता है। साथ ही लॉकडाउन को 30 अप्रैल से आगे बढ़ाये जाने की संभावनाओं से भी इनकार नहीं किया है। बैठक में, अधिकांश राज्यों ने भी माना कि कोरोना से लड़ने के लिए लॉकडाउन को बढ़ाना जरूरी है। देश में कोरोनावायरस (Covid-19) मामलों की संख्या बढ़कर 8,000 के पार चली गई है जबकि इस वायरस से मरने वालों की संख्या 270 से ऊपर पहुंच गई है। केंद्र और राज्य सरकारें कोरोनावायरस संक्रमण को रोकने के लिए सभी जरूरी कदम उठा रही हैं।


भूकंप से थर्राया दिल्ली-एनसीआर

नई दिल्ली। दिल्ली और एनसीआर में तेज बुकम्प के झटके महसूस किए गए हैं। डर से लोग घरों के बाहर निकल पड़े । भूकंप के हलके झटके रविवार की शाम को महसूस किए गए। इसके बाद लोगों में दहशत का माहौल था और कोरोना वायरस के चलते संपूर्ण लॉकडाउन के बीच भारी संख्या में अपने घरों में रह रहे लोग बाहर निकलते हुए देखे गए। ऐसा बताया जा रहा है कि इसका रिएक्टेर स्केल की तीव्रता 4 के आसपास बताई जा रही है। क्योंकि ऐसे वक्त में डर का माहौल देखा जाता है। हालांकि, 6 के ऊपर तीव्रता होती है तो वहीं ज्यादा खतरनाक भूकंप माना जाता है।


2044 नए संक्रमित, 643 लोगों की मौत

पेरिस। पेरिस के अस्‍पतालों में आइसीयू में भर्ती होने वाले कोरोना रोगियों की संख्‍या में गिरवाट दर्ज की गई है। हालांकि, कोरोना वायरस से 24 घंटे के दौरान 643 लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ फ्रांस में वायरस के कारण कुल मौत 13,832 तक पहुंच गई है। स्वास्थ्य महानिदेशक जेरिस सॉलोमन ने कहा पिछले 24 घंटों में 2,044 नए रोगियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, 6,883 रोगी गहन देखभाल इकाइयां (ICU) में भर्ती हैं।  


सोमवार को राष्‍ट्र को संबोधित करेंगे फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉनः फ्रांस के राष्‍ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने कहा कि 17 मार्च से लागू राष्‍ट्रव्‍यापी लॉकडाउन की अविध 15 अप्रैल से आगे बढ़ाने के लिए सोमवार को राष्‍ट्र को संबोधित करेंगे। उन्‍होंने कहा कि हमें पूरी तरह से सतर्क रहना जारी रखना चाहिए। उन्‍होंने कहा कि सामाजिक दूरी और लॉकडाउन ही मौजूदा समस्‍या का समाधान है। इस बीच एक अधिकारी ने कहा कि कोरोना के प्रसार के चलते अस्‍पतालों पर काफी दबाव बना हुआ है। उक्‍त अधिकारी ने कहा कि अभी यह महामारी वक्र तेजी से ऊपर की ओर जा रहा है। इसलिए हमें अतिरिक्‍त सावधानी बरतने की जरूरत है।


डिस्टेंस न रखने वालों पर धारा 188

अतुल त्यागी जिला प्रभारी


हापुड़। जिलाधिकारी अदिति सिंह द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुपालन में कार्य करते हुए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग की टीम ने उपजिलाधिकारी धौलाना एवं पुलिस क्षेत्राधिकारी के साथ मिलकर पिलखुवा के किराना स्टोरो का निरीक्षण कर निर्धारित मूल्य से अधिक मूल्य पर आवश्यक वस्तुओं को बेचने, खाद्य पदार्थों की मूल्य सूची ना लगाना एवं सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान न रखने वालों पर धारा 188 के तहत एफ आई आर की गई दर्ज।


जिलाधिकारी अदिति सिंह द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुपालन में कार्य करते हुए खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग की टीम द्वारा आज उपजिलाधिकारी धौलाना एवं पुलिस क्षेत्राधिकारी के साथ मिलकर पिलखुवा के किराना स्टोरो का निरीक्षण किया गया।  निरीक्षण के दौरान मै0गर्ग किराना स्टोर प्रतिष्ठान स्वामी खाद्य कारोबार कर्ता मोहित गर्ग पुत्र विनोद गर्ग रेलवे रोड पिलखुवा जनपद हापुड़ एवं रामनाथ  दीपक कुमार किराना स्टोर  प्रतिष्ठान स्वामी खाद्य कारोबार कर्ता दीपक कुमार पुत्र विजय कुमार गर्ग घास मंडी, पिलखुवा हापुड़ के उक्त प्रतिष्ठानों पर निरीक्षण के दौरान  आपदा काल महामारी कोविड-19 के समय जिला प्रशासन  हापुड़ द्वारा जारी खाद्य पदार्थों की  निर्धारित मूल्य सूची ( रेट लिस्ट) से अधिक मूल्य रेट पर खाद्य पदार्थों  उड़द, मूंग ,चना दाल एवं चावल को निर्धारित मूल्य से अधिक पर विक्रय करते/ बेचते हुए पाया गया। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करने आदि सरकारी आदेशों की अवहेलना करने के कारण उपरोक्त प्रतिष्ठानों पर आपदा काल में आईपीसी की धारा 188 के तहत एफ आई आर दर्ज कराई गई। निरीक्षण के दौरान उप जिलाधिकारी धौलाना विशाल यादव, पुलिस क्षेत्राधिकारी पिलखुवा,  पवन कुमार अभिहित अधिकारी, सतीस कुमार मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी, धर्मपाल सिंह, संदीप कुमार उपस्थित रहे। यह जानकारी जिला अभिहित अधिकारी हापुड द्वारा दी गई है।


कैदियों के तीसरे समूह को रिहा किया

काबुल। अफगानिस्तान सरकार 100 तालिबान कैदियों के तीसरे समूह को रिहा करने की तैयारी कर रही है। टोलो न्यूज की एक रिपोर्ट के हवाले से समाचार एजेंसी आइएएनएस ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के प्रवक्ता जावेद फैसल ने इसकी जानकारी दी लेकिन बिना ये बताए कि यह कब होगा।जावेद फैसल की ओर से यह टिप्पणी सरकार के 100 कैदियों के पहले जत्थे को रिहा करने के बाद आया, इसके अगले दिन 100 और कैदियों को भी रिहा गया।


सरकार ने शांति प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए 1500 तालिबान कैदियों को रिहा करने की घोषणा की है। शांति मामलों के राज्य मंत्रालय के प्रवक्ता नाजिया अनवरी ने कहा कि हम तालिबान को बातचीत शुरू करने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए कानून के ढांचे के भीतर कोई कोशिश नहीं छोड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि दोनों गुटों को प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए प्रयास करना चाहिए। 29 फरवरी को दोहा में साइन किए गए यूएस-तालिबान शांति समझौते के आधार पर तालिबान समूह के 5000 कैदियों को अफगान सरकार द्वारा रिहा किया जाना चाहिए और आंतकवादी समूह के 1,000 कैदियों को अफगान वार्ता शुरू करने के लिए छोड़ा जाना चाहिए।


20 हजार से अधिक ने की सीमा पार

काबुल। पाकिस्तान में कोरोना वायरस से हालात बेहद खराब हैं। इमरान खान की तमात कोशिशों के बाद भी मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। पाकिस्तान में लॉकडाउन की वजह से हजारों अफगानी नागरिक फंसे हुए हैं। इस बीच अपने फंसे नागरिकों को निकालने के लिए पाकिस्तान और अफगानिस्तान ने तोरखम सीमा खोल दी है। इस दौरान चार दिनों में लगभग 20 हजार से अधिक अफगान नागरिकों ने सीमा पार की है।


अधिकारियों ने शुक्रवार को डॉन न्यूज को बताया कि आखिरी दिन ज्यादा भीड़ नहीं थी। सीमा बंद होने से पहले ही 1,100 अफगान नागरिक वापस चले गए थे। जिसमें से ज्यादातर पुरुष थे। उन्होंने बताया कि चार दिनों के दौरान कुल 20,066 अफगान नागरिकों ने सीमा पार की है।अधिकारियों ने कहा कि दूसरे और तीसरे दिन (7 और 8 अप्रैल) उनके लिए बहुत कठिन साबित हुए। इन दो दिनों में लगभग 18,000 अफगान नागरिक ने सीमा पार की। इसमें पुरुष, महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे। उन्होंने कहा कि पहले दिन,हमने केवल 1,000 अफगान नागरिकों को वापस जाने की अनुमति दी, जिनके पास सभी वैध यात्रा दस्तावेज थे।


बांग्लादेशः 7 जमाती कोरोना पॉजिटिव

सीतापुर/ ढाका। उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में सोमवार को बांग्लादेश के रहने वाले सात जमाती कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इनके साथ तब्लीगी जमात का महाराष्ट्र का रहने वाला एक व्यक्ति भी संक्रमित है। कुल आठ लोगों की रिपोर्ट आने के बाद जिलेवासियों की चिंता बढ़ गई है। प्रशासन ने प्रभावित इलाके को सील कर दिया है। साथ ही संक्रमितों को अस्पताल में भर्ती किया गया है। हालांकि, प्रशासन संक्रमितों को मेडिकल कॉलेज लखनऊ ले जाने की तैयारी कर रही है।


33 जमातियों में 8 कोरोना पॉजिटिवः सीएमओ आलोक कुमार ने बताया- पिछले दिनों प्रशासन द्वारा की गई जांच पड़ताल में खैराबाद इलाके के अर्जुनपुर में कुल 33 जमाती मिले थे, इनमें बांग्लादेश के 10 जमाती थे। ये सभी दिल्ली के मरकज से लौटे थे। इनके साथ एक सहयोगी महाराष्ट्र और एक आसाम का था। बांग्लादेशियों के पासपोर्ट जब्त किए जा चुके हैं, साथ ही एफआईआर भी दर्ज हुई थी। इन सभी को जेएलएमडी कॉलेज में क्वारैंटाइन कराकर इनके सैम्पल जांच के लिए भेजे गए थे। सोमवार कोमिली रिपोर्ट के अनुसार इनमें से 8 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। खैराबाद इलाके को सील कर दिया गया है। प्रभावित इलाके को किया गया सीलः दो दिन पहले ही डीएम-एसपी ने जेएलएमडी कॉलेज का दौरा कर इस पूरे मामले की गहराई से पड़ताल की थी। इस मामले में स्थानीय पुलिस द्वारा वीजा के नियमों का उल्लंघन करने के आधार पर केस दर्ज कराया गया था। बाद में एसपी ने इस मामले में अन्य धाराओं की बढ़ोतरी के निर्देश भी दिए थे। डीएम अखिलेश तिवारी का कहना है कि संक्रमितों को अब क्वारैंटाइन सेंटर से निकालकर हॉस्पिटल में भर्ती कराया जा रहा है और इस इलाके को पूरी तरह से सील कर दिया गया है।


बांग्लादेशः तेज गेंदबाज ने लिया संन्यास

ढाका। बांग्लादेश के तेज गेंदबाज मोहम्मद शरीफ ने क्रिकेट के सभी प्रारुपों से संन्यास ले लिया है। शरीफ ने 2001 से 2007 तक बांग्लादेश के लिए 10 टेस्ट और नौ वनडे मैच खेले हैं।


उन्होंने घरेलू क्रिकेट में 393 प्रथम श्रेणी मैच और लिस्ट-ए में 185 मैच खेले हैं। शरीफ ने क्रिकबज से कहा, मैंने क्रिकेट के सभी प्रारुपों से संन्यास लेने का फैसला किया है। हालांकि मैं अभी और दो साल खेलना चाहता था। उन्होंने कहा, मैं बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) के साथ आने वाले दिनों में काम करना चाहता हूं। अगर संभव हो तो मैं अपना अनुभव साझा करना चाहूंगा। शरीफ ने अप्रैल 2001 में बुलावायो में जिम्बाब्वे के खिलाफ मैच से पदार्पण किया था। उन्होंने उसी दौरे पर टेस्ट में भी पदार्पण किया था। दोनों मैचों में उन्होंने एक-एक विकेट लिए थे।


कोरियाः विशेषज्ञों के लिए नई चुनौती

सियोल। नोवल कोरोनावायरस पूरी दुनिया में पैर पसार चुका है। अबतक 17 लाख से ज्यादा लोग इस खतरनाक महामारी का शिकार हो चुके हैं, जबकि एक लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गई। इधर दक्षिण कोरिया से एक डराने वाली बात सामने आई है। यहां 91 ऐसे मरीज मिले है, जिन्हें पहले कोविड-19 (COVID-19) संक्रमण होने पर इलाज मिल चुका है। इस घटना के बाद स्वास्थ्य विशेषज्ञों के सामने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। अधिकांश देश का मानना है कि संक्रमित शख्स का इलाज करने के बाद उनमें प्रतिरोधक क्षमता रहेगी ताकि वह फिर चपेट में नहीं आए। ऐसे में दक्षिण कोरिया से आए मामलों ने चिंता में डाल दिया है।


कोरिया रोग नियंत्रण व रोकथाम केंद्र ने इस मामलों से संबंधित टीम दाएगू शहर में भेजी है। यहां देश के आधे मामले मिले थे। केंद्र निदेशख जियोंग यून काइयोंग ने कहा कि वायरस इन लोगों में फिर से नहीं आया, बल्कि फिर से सक्रिय हुआ है। वहीं फॉल्स निगेटिव टेस्ट भी वजह हो सकती है। स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रवक्ता सोन यंग-रे ने कहा कि किसी भी रोगी को तभी पूरी तरह ठीक करारा दिया जा रहा, जब 24 घंटे के अंदर में उसकी दो जांच रिपोर्ट निगेटिव आई हो।


ज्योतिरादित्य सिंधिया सरकार में शामिल

पूर्व मंत्री एवं दतिया विधायक डॉ. नरोत्तम मिश्रा की सियासत ने बिगाड़ दिया कमलनाथ दिग्विजय का खेल: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के ऑपरेशन लॉट्स में पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को कराया शामिल


पंकज पाराशर


भोपाल l राष्ट्रीय राजनीति में मध्य प्रदेश के  दैदिप्यमान नक्षत्र के रूप में अपनी मेहनत, सरलता, मृदुभाषी और भाजपा के दिग्गजों में विश्वास के कारण एक अलग पहचान बना चुके पूर्व मंत्री एवं दतिया विधानसभा विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ. नरोत्तम मिश्रा भाजपा के शीर्ष नेता और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के हर भरोसे पर चाणक्य के रूप खरे उतरे हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने डॉ. नरोत्तम मिश्रा को जो भी कार्य सौंपा, उसे बखूबी पूरा किया है। चाहे उत्तर प्रदेश बिधानसभा के चुनाव का प्रभार रहा हो या लोकसभा का प्रभार दोनों चुनाव में कुशल रणनीति और संगठन क्षमता से मिले कार्यों का सफलता पूर्वक निर्बहन किया, साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह  के हर संकट में सहारा बनकर सरकार में संकट मोचक की भूमिका में रहे। पिछले बिधानसभा चुनाव में भाजपा पांच छह सीटों की कमी के कारण सरकार नहीं बना सकी और कांग्रेस छोटी सी जीत को पचा न सकी और एक साल के आंतरिक कलह जनता के बीच एक्सपोज हो गई। कांग्रेस की कमजोर कड़ी और दिग्विजय का अति मेहतबाकाक्षीं होना और कमलनाथ का एहंकार कांग्रेस की चला चली की बेला बन गई l कांग्रेस का जो एपिसोड चला उसने पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को हांसिये पर ला खड़ा किया। बस भाजपा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के मन को भांपा और भाजपा ने ऑपरेशन लॉट्स अभियान को गति दी। अभियान की कमान खुद गृह मंत्री अमित शाह ने संभाली और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से बात करने के लिए मध्य प्रदेश भाजपा के चाणक्य पूर्व मंत्री एवं दतिया विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ. नरोत्तम मिश्रा समेत कुछ और नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी। इधर बात बनी की पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा के हुए और कमलनाथ और दिग्विजय के शेयर भाव औंधे मुंह गिरे यानि सरकार चली गई। कमलनाथ और दिग्विजय हाथ मलते रह गए। इस पुरे एपिसोड में कांग्रेस के इस्तीफा देने बाले बिधायक चट्टान  की तरह पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ खड़े रहे।


 


संस्था ने कराया सोडियम का छिड़काव

श्री सहस्रबाहु अर्जुन सेवा समिति की ओर से सोडियम क्लोराइड का किया जा रहा है छिड़काव


अलवर। कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन के दौरान से ही श्री सहस्त्रबाहु अर्जुन सेवा समिति एवम अखिल भारतीय जायसवाल सर्ववर्गयी युवा महासभा  के तत्वाधान में राशन किट वितरण एवं खाने के पैकेट बांटे जा रहे हैं।  मदन सिंह हाड़ा ने बताया कि कोरोना वायरस की महामारी से सम्पूर्ण देश लॉक डाउन है,अखिल भारतीय जायसवाल  सर्वज्ञ युवा महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कैलाश धनिष्ठा जी के आवाहन पर राशन किट वितरण वह भोजन के पैकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इस दौरान ऐसे में सड़क, फुटपाथ, दुकानों के शेड के नीचे व खुले आसमान के नीचे रहने वाले मजूदर, भिक्षुक, निर्धन लोगों को उनका एक वक्त तक का भोजन भी नसीब नहीं हो रहा है । इस लॉक डाउन की स्थिति में जिला प्रशासन के सहयोग से उन गरीब लोगों तक जरूरत की सामग्री राशन किट व भूखे लोगो को खाना के पैकिट पहुंचाने का पवित्र काम श्री सहस्र बाहु अर्जुन सेवा समिति  के सदस्यों द्वारा किया जा रहा है !
जितेंद्र गोपालिया ने बताया कि श्री सहस्रबाहु अर्जुन सेवा समिति के सदस्यो के द्वारा आज लगभग 400 पैकिट खाना हलवा,परांठे, आलू छोले की सब्जी के पैकेट बानये जा रहे हैं श्री सहस्त्रबाहु अर्जुन सेवा समिति के सदस्यों द्वारा ही खाना तैयार किया जाता है । शिकारी बॉस,सूर्ये नगर, अम्बेडकर नगर, टेल्को चौराहे, तिजारा फाटक, अखैपूरा मोहल्ला, अशोका टाकीज,कबीर कॉलनी,  काला कुआँ, लड्डू खास की बगीची , एमआईए, शिवाजी पार्क, चोर डूँगरी आदि अलग अलग स्थानों पर जरूरतमंद परिवारो को राशन किट व खाना उपलब्ध कराया जा रहा है।
श्री सहस्त्रबाहु अर्जुन सेवा समिति के तत्वाधान में अलवर शहर मेंं बाल विहार स्कूल सोमवंशी सभा भवन संज्ञान कोचिंग कंपनी बाग के बाहर व मनी का बड़ आदि जगह सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिडकाव किया गया।    
यह सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव पूरे अलवर शहर में किया जा रहा है इसमें विशेष योगदान कांग्रेस जिलाध्यक्ष दिन बंधु शर्मा व अग्रवाल महासभा के अध्यक्ष अमित  गोयल जी का है।
इस दौरान युवा कांग्रेस के अलवर शहर अध्यक्ष सुनील सैनी ,विरेन्द्र शर्मा, पारश सैनी,सतीश सैनी,रितिक सोमवंशी,लव कुश यादव,जफर खान, रूपेंद्र् शर्मा, अध्यक्ष मदन सिंह हाडा, टोनी मामा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष महेश चंद सेठी,समिति संरक्षक श्याम सिंह, , जितेंद्र कुमार वर्मा,ललित धानावत, पुरुषोत्तम, तेज सिंह सोमवंशी, करण बेनीवाल, ओम प्रकाश जयसवाल, वेद प्रकाश बेनीवाल, सुनील  गोपालिया, रूपी सेठी,,मुकुल सेठी, मनीष, जितेंद्र गोपालिया, इत्यादि अपनी सेवाएं दे रहे हैं ।


ऑटो-टैक्सी चालकों को मिलेंगे 5000

ऑटो-टैक्सी चालकों को 5000 रुपये देगी दिल्ली सरकार


नई दिल्ली। दिल्ली में केजरीवाल सरकार के मंत्री और नजफगढ़ से विधायक कैलाश गहलोत ने इस बाबत एक ट्वीट किया है। कैलाश गहलोत ने अपने ट्वीट में लिखा है कि सीएम अरविंद केजरीवाल ने वादा किया था। दिल्ली कैबिनेट ने रविवार को प्रत्येक पैरा-ट्रांजिट वाहन चालक को 5000 रुपये देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। कोरोना वायरस ने अब पूरी दुनिया को अपनी जद में ले लिया है। भारत में भी कोरोना ने अपना कहर बरपा रखा है। केन्द्र और राज्य सरकारें मिलकर तमाम कोशिशें कर रही हैं लेकिन कोरोना संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है।


लॉकडाउन की वजह से सभी उद्योग-धंधे बंद हो चुके हैं और लोगों का घरों से निकलना बंद हो चुका है। इसकी वजह से सबसे ज्यादा दिक्कत हर दिन मेहनत कर रोजी-रोटी कमाने वालों को हो रही है। केन्द्र और राज्य सरकारें ऐसे लोगों की मदद के लिए तमाम योजनाएं चला रही हैं। दिल्ली सरकार ने ऐसी ही एक योजना का प्रस्ताव आज पास कर दिया है जिसकी मदद से तमाम ऑटो रिक्शा, टैक्सी, टैंपो, स्कूल कैब और ई-रिक्शा चलाने वाले चालकों को आर्थिक मदद मिलेगी।


ब्रिटेनः 10,000 की मौत, 84000 संक्रमित

लंदन। ब्रिटेन में कोरोना वायरस की वजह से मरने वालों की संख्या 10 हजार के पार हो गई है। कोरोना संक्रमण के शिकार हुए ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को आज ही अस्पताल से छुट्टी मिली है। 
ब्रिटेन में कुल मामलों की संख्या 84 हजार के पार हो चुकी है। 


कोरोना के खिलाफ साझा लड़ाई पर ध्यान केंद्रित करें धार्मिक नेता : यूएन प्रमुख संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेस ने सभी धर्मों के नेताओं से कोविड-19 संकट से पार पाने की साझा लड़ाई पर ध्यान केंद्रित करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि यह वक्त शांति के लिए काम करने और एक दूसरे पर अपने विश्वास को फिर से मजबूत करने का है। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि उनकी यह अपील ऐसे खास समय में है ब इसाई समुदाय के लोग ईस्टर मना रहे हैं, यहूदी पासओवर मना रहे हैं और मुसलमान समुदाय के लोगों का पवित्र माह रमजान शुरू होने वाला है। गुटेरेस ने कहा,‘आज मैं सभी धर्मों के नेताओं से विश्वभर में शांति कायम करने में लगी ताकतों का साथ देने की विशेष अपील करता हूं और कोविड-19 को मात देने की हमारी साझा लड़ाई पर ध्यान केंद्रित करने की अपील करता हूं।’ उन्होंने आग्रह किया कि ऐसे समय में, सभी को इन पवित्र अवसरों के सार से प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने उम्मीद जताई कि साथ मिलकर दुनिया इस विषाणु को हरा सकती है और हराएगी। अस्पताल से बाहर आए बोरिस जॉनसनः ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। जॉनसन कोरोना से संक्रमित पाए गए थे। लंदन के सेंट थॉमस अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था।
तीन दिन तक आईसीयू में भर्ती रहे जॉनसन को 10 अप्रैल को हालत में सुधार आने के बाद सामान्य वार्ड में शिफ्ट किया गया था। उनकी गैरमौजूगी में विदेश सचिव डॉमिनिक राब को देश का नेतृत्व दिया गया था। बता दें कि जॉनसन एक महीने पहले ही कोरोना से संक्रमित पाए गए थे फिर उन्होंने खुद को पृथक (आईसोलेट) कर लिया था।


'लॉक डाउन' के महत्व को समझेंं

राजू सिंह


कौशांबी। कोरोना संकट से जूझ रही सरकार ने लॉक डाउन की तिथि बढ़ाते हुए 30 अप्रैल कर दी है। इस अवधि में प्रदेश सरकार ने इन नियमों को तय किया है।


सभी जिलों में 30 अप्रैल तक लॉकडाउन रहेगा। जिलों के दो वर्ग होंगे। ए वर्ग में वे जिले होंगे जहां 14 अप्रैल तक एक भी कोरोना पॉजिटिव केस नहीं मिला है। वर्ग बी में वह जिलेे होंगे जहां पॉजिटिव केस मिल चुके हैं या 14 अप्रैल तक और मिलने की आशंका है। ए वर्ग वाले जिलों में कुछ रियायतें दी जाएंगी। बी वर्ग वाले जिलों में प्रतिबंध पूरी तरह से जारी रहेगा। जिलों में चिह्नित किए गए हॉटस्पॉट वाले क्षेत्रों में किसी भी तरह का मूवमेंट पूरी तरह से प्रतिबंधित होगा। यहां प्रशासन राशन और अन्य जरूरी सामान की व्यवस्था करेगा।
30 अप्रैल तक प्रदेश में कहीं भी पांच से अधिक लोगों के जमा होने पर प्रतिबंध रहेेगा और धारा 144 लागू रहेगी।
31 मई तक पूरे प्रदेश में सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य होगा और सोशल डिस्टेंसिंग की नीति भी इसी तारीख तक लागू रहेगी। वर्ग बी के जिलों की सीमाएं सील रहेंगी और सामान का परिवहन भी जिलों की सीमा के अंदर नहीं होगा। वर्ग ए के जिलों में जिलाधिकारी की अनुमति से परिवहन में रियायत दी जा सकती है। वर्ग ए और वर्ग बी वाले जिलों के बीच कोई आवागमन नहीं होगा। वर्तमान में लागू पास मान्य होंगे। स्वास्थ्य परीक्षण आदि जारी रहेगा। हॉटस्पॉट वाले इलाकों को छोड़कर जोखिम का आकलन कर डीएम निर्माण, औद्योगिक उत्पादन और खनन की अनुमति दे सकेंगे। स्टांप एवं रजिट्रेशन की सभी जिलों में नियमों के अधीन अनुमति मिल सकती है। होटल, धर्मशाला, होम स्टे, मॉल, सिनेमा हॉल, मल्टीप्लेक्स, जिम, रेस्टूरेंट, बार, धार्मिक संस्थान आदि बंद रहेंगे। जिलाधिकारी की अनुमति के बिना किसी कार्मिक या अन्य व्यक्ति को हटाया नहीं जाएगा। हॉटस्पॉट को छोड़कर इनको रहेगी अनुुमति : खेती किसानी, बागवानी, मौन पालन, पशुपालन, डेयरी, मत्स्य पालन, कटाई बुवाई आदि को अनुमित रहेगी। राज्य की सीमा से बाहर और वर्ग बी वाले जिलों से श्रमिक नहीं लाए जा सकेंगे।
15 मई तक प्रदेश के सभी स्कूल, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे। अस्पतालों आदि को छोड़कर 15 मई तक प्रदेश मे एयर कंडीशनर के उपयोग पर भी रोक।
रियायत : वर्ग ए वाले जिलों के बीच सात बजे से लेकर एक बजे के बीच खुद के वाहनों से यात्रा हो सकेगी। वर्ग ए और वर्ग बी वाले जिलों के बीच वाहन नहीं चलेेंगे, केवल आवश्यक सामान की ढुलाई हो सकेगी।
वर्ग ए वाले जिलों सहित अगर कहीं कोरोना संक्रमण के नए मामले सामने आते हैं तो प्रतिबंध अधिक सख्त किए जाएंगे।
क्वारंटीन होने वालों को इधर-उधर आने-जाने की इजाजत नहीं होगी। सभी निजी अस्पताल और अन्य चिकित्सीय संस्थाएं प्रदेश में खुली रहेंगी और सोशल डिस्टेंस नीति का पालन होगा। सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए मनरेगा को वर्ग ए जिलों में अनुमति होगी।


बीरगंजः 3 भारतीय कोरोना पॉजिटिव

काठमांडू। नेपाल के पारसा जिले में बीरगंज इलाके में तीन भारतीय नागरिकों के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। नेपाल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि तीनों भारतीय नागरिकों में कोरोना के लक्षण नजर आने के बाद क्वारंटीन में रखा गया था। इसी दौरान उनके सैंपल जांच के लिए भेजे गए, जिसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।


नेपाल में तीन भारतीय कोरोना पॉजिटिवः स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि बीरगंज इलाके में तीन भारतीय नागरिकों के कोविड-19 पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। इसी के साथ नेपाल में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 12 हो गई है। नेपाल के बीरगंज में कोरोना पॉजिटिव पाए गए तीनों भारतीय नागरिकों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उन्हें जरूरी इलाज मुहैया कराया जा रहा है।


व्हाट्सएप पर कक्षा लेने वाली शिक्षिका

परिषदीय विद्यालय मुरारपुर की गीता ह्वाट्सऐप से पढ़ाने वाली जनपद की पहली शिक्षिका बनी


सुनील पुरी


बिंदकी फतेहपुर। विकासखंड देवमई के परिषदीय विद्यालय मुरारपुर की प्रधानाध्यापिका गीता यादव ने कोरोना वायरस के चलते लॉक डाउन की वजह से विद्यालय बंद है। ऐसे में उन्होंने व्हाट्सएप पर पढ़ाई की शुरुआत की है। जिससे बच्चों की पढ़ाई सुचारू रूप से होती रहे। उन्होंने बताया कि यूँ तो मैंने 6 माह पहले ही अभिभावकों क़ा watsapp  ग्रुप आवश्यक सूचनाओं के संप्रेषण हेतु बनाया था पर उस समय मुश्किल से 10 अभिभावक ही ऐसे थे। जिनके पास android फोन था तो इस चुनौती क़ा सामना करने के लिए मैंने छात्रों के परिवार के ऐसे सदस्य जिनके पास android फोन था (भले ही वो चाचा, ताऊ, भाई, चचेरा भाई  आदि) ,समूह मे जोड़ लिया था । 
    उस वक्त समूह में विद्यालय में होने वाली हर गतिविधि शेयर की जाती थी ताकी अभिभावकों के दिल से बेसिक की गलत छवि मिटा सकूँ और उन्हे भी दिखे कि उनका बच्चा कॉन्वेंट से भी कही बेहतर शिक्षा प्राप्त कर रहा है , TLM , रोल प्ले, गतिविधियाँ , कविता, कहानी, कॉमिक्स आदि को समय समय पर अभिभावकों द्वारा सराहा भी गया । विभिन्न मीटिंग की सूचना भी ग्रुप पर दे दी जाती थी ....... पर क्या पता था कि उस समय क़ा बनाया गया ये ग्रुप लॉक डाउन की स्थिति में यूँ कारगर सिद्ध होगा ।
    लॉक डाउन के समय समूह की सार्थकता सिद्ध हुई। जब कई दिन हो गए और बच्चों से बात हुई तो सब अपनी पढ़ाई को लेकर परेशान दिखे और घर और रहकर बोर भी हो रहे थे। सर्वप्रथम मैंने ग्रुप में बच्चों को COVID_19 पर बचाव हेतु पोस्टर बनाने क़ा टास्क दिया, परंतु मात्र 2 छात्रों ने ही अपनी कृति साझा की , फोन करने पर पता चला कि अभिभावक उन्हे बताना भूल गये । अब मैंने एक समय निश्चित कर दिया है, सुबह 7 बजे आराधना मैम योगा क़ा एक वीडियो भेजती हैं, मैं बच्चों को कक्षावार, विषयवार प्रश्नपत्र तैयार करके प्रेषित करती हूँ, बच्चे उनका प्रतिउत्तर मुझे भेजते हैं एवं समस्याएं भी साझा करते हैं, फिर भी ज्यादा से ज्यादा 10 बच्चे ही ऐसा करते थे । दो बच्चों को लीडर बनाया जो अगल बगल के बच्चों को भी प्रश्नपत्र बताने लगे , इसमें ग्रुप के प्रबुद्ध लोग भी भागीदारी कर रहें हैं। वर्तमान समय में लगभग 30-35 छात्र इस ऑन लाइन शिक्षा से लाभान्वित हो रहे हैं।
      ग्रुप में विकास खण्ड के खण्ड शिक्षा अधिकारी भी हैं जो समय समय पर COVID-19 से सम्बन्धित सूचनाओं के साथ साथ  आओ अंग्रेजी सीखें के सारे एपिसोड भी साझा करते रहते हैं। 
स्कूल चलो अभियान पर सहायक शिक्षा निदेशक अब्दुल मुबीन द्वारा लिखा गीत मैंने स्टारमेकर पर गाकर अभिभावकों को सुनाकर बेसिक स्कूलों की खूबियाँ बतायी व स्कूल चलो अभियान की शुरुवात भी की। स.अ.आराधना जी घर पर TLM के साथ वीडियो बनाकर भेजती हैं ताकि बच्चों की रुचि बनी रहे। कक्षा 1 के लिए मैने rhymes के वीडियो भी तैयार किए हैं। विषय आधारित कविताएं भी साझा करती रहती हूँ । zoom app के प्रयोग की भी तैयारी है। प्रधानाध्यापिका कहती हैं कि लॉक डाउन की स्थिति  मेरे बच्चों की पढ़ाई में बाधक नहीं बनेगी।


पीएम पर टिप्पणी करने वाला गिरफ्तार

आनंद


मीरजापुर। सोशल मीडिया फेसबुक पर अपने फेसबुक आईडी से प्रधानमंत्री का आपत्तिजनक फोटो पोस्ट करने वाले अभियुक्त मठना निवासी अभियुक्त सोनू अंसारी (19वर्ष) पुत्र फारूक अंसारी को बीती रात पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया और उसके विरुद्ध थाना जमालपुर पर आईपीसी की धारा 153 ए, 505 (2) भा0द0वि0 व 67 आईटी एक्ट के तहत मुकदमा लिख जेल भेज दिया गया। इस दौरान थाना जमालपुर के थानाध्यक्ष अश्वनी त्रिपाठी, उ0नि0 पंकज राय, का0 राहुल यादव व का0 सुशील सिंह मौजूद रहे।


चर्च में पहुंचे 39 लोग गिरफ्तार

महासमुन्द। नयापारा के एक चर्च में रविवार सुबह रविवारी प्रार्थना करने चर्च पहुंचे 39 महिला-पुरूष को सिटी कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस सभी लोगों के खिलाफ धारा 144 और धारा 188 के उल्लंघन करने का मामला दर्ज कर सभी को जेल भेजने की तैयारी कर रही है। पूरे देश में और प्रदेश में कोरोना को लेकर सावधानी बरती जा रही है, लेकिन एक वर्ग के लोगों द्वारा शासन प्रशासन के बारबार चेतावनी देने के बाद भी लगातार ऐेसे कृत कर शासन प्रशासन के नियमों की धज्जीयां उठाई जा रही है। सिटी कोवताली पुलिस को रविवार सुबह 11 बजे सूचना मिली की नयापारा स्थित इंडियन बिलिबर फेलोशिप चर्च के पास्टर प्राणेश्वर राव ने 39 महिला पुरूषों को अपने चर्च में प्रार्थना करने के लिए बुलाया है।
Ad


सूचना पाकर तत्काल पुलिस मौके पर पहुंची और सभी को चर्च से गिरफ्तार कर स्थानीय टाउन हाल में लाकर सभी के खिलाफ 144 का उल्लंघन करने के आरोप में कानूनी कार्रवाई करते हुए जेल भेज रही है। जेल भेजने से पहले जिला प्रशासन को मामले की जानकारी पुलिस ने दी जिसके बाद अनुविभागीय अधिकारी सुनील चन्द्रवंशी, तहसीलदार चोपड़ा पहुंचे और जिला अस्पताल के चिकित्सकों को जांच के लिए बुलाया गया। सभी महिला पुरूषों का जिला चिकित्सालय की टीम ने चेकप किया। चर्च के 39 महिला पुरूषों के साथ कुछ बच्चे भी प्रार्थना के लिए पहुंचे थे। जिनमें से एक बच्चे के शरीर का टेम्प्रेचर जांच में अधिक पाया गया है, जिसे इलाज के लिए अस्पताल भेजने की बात डाक्टरों ने कही है।


अंत्येष्टि में गए सैकड़ों, रिपोर्ट पॉजिटिव

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में बीते दिनों बुजुर्ग जगन्नाथ मैथिल की मौत हो गई थी। उनकी अंत्येष्टि में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए थे। तीन दिन बाद जब मृतक बुजुर्ग की जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई तो अंत्येष्टि में शामिल लोगों के बीच हड़कंप मच गया। साथ ही बुजुर्ग का इलाज करने वाले हमीदिया अस्पताल के डॉक्टरों और स्टाफ के बीच भी सनसनी फैल गई है, क्योंकि 3 दिन पहले जब बुजुर्ग की मौत हुई थी, तब उस समय न ही परिवार को और न ही हमीदिया अस्पताल के डॉक्टरों को यह पता था कि उन्हें कोरोना वायरस का संक्रमण है।


भोपाल में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैलता जा रहा है। भोपाल में कोरोना से यह दूसरी मौत हो गई है। शनिवार देर रात भोपाल के जहांगीराबाद निवासी मृतक बुजुर्ग जगन्नाथ की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई। उनकी मौत 3 दिन पहले भोपाल के हमीदिया अस्पताल में इलाज के दौरान हुई थी। राजधानी में अब कोरोना से मौत का आंकड़ा 2 तक पहुंच गया है। 6 अप्रैल को भोपाल में कोरोना से पहली मौत हुई थी। कोरोना वायरस से संक्रमित इब्राहिमगंज निवासी नरेश खटीक ने भोपाल के नर्मदा अस्पताल में कोरोना से दम तोड़ा था।


सुभाष विश्राम घाट पर पहुंचे थे सैकड़ों लोग


जगन्नाथ मैथिल की 9 अप्रैल को मौत हुई है। उनकी अंत्येष्टि में बरखेड़ी जहांगीराबाद के लोग बड़ी संख्या में शामिल हुए थे. उस समय सभी लोग सोच रहे थे कि दादा बुजुर्ग थे। इस कारण उनकी मौत हो गई। उनकी अंत्येष्टि में जहांगीराबाद स्थित उनके घर से लेकर सुभाषनगर विश्राम घाट तक सैकड़ों लोग पहुंचे थे। साथ ही जिस समय उनका इलाज हमीदिया अस्पताल में चल रहा था, उस समय डॉक्टर और दूसरे स्टाफ को भी उनके कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी नहीं थी। डॉक्टर सामान्य इलाज कर रहे थे। ऐसे में अब 3 दिन के बाद पॉजिटिव रिपोर्ट आई है तो लोगों के साथ अस्पताल के डॉक्टर और स्टाफ में हड़कंप का माहौल है।


बेटे को जहर देकर, कर ली आत्महत्या

 बाप ने 12 साल के बेटे को खिलाया जहर, फिर खुद भी लगाया मौत को गले
 
कविता गर्ग


जौनपुर। उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण के इस काल में सबकुछ ठप पड़ा हुआ है। इसी कड़ी में रविवार को गौराबादशाहपुर थाना क्षेत्र के धर्मापुर ठकुरची गांव में एक बाप ने खुद विषाक्त पदार्थ खाने के बाद (12) वर्षीय बेटे को भी खिला दिया। वहीं इलाज के दौरान जिला अस्पताल में पिता ने दम तोड़ दिया जबकि पुत्र को हालत नाजुक होने के चलते बीएचयू ट्रामा सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया। बाप-बेटे के जहर खाने को लेकर पूरे गांव में सन्नाठा पसरा हुआ है। फिलहाल पुलिस घटना की जांच पड़ताल में जुटी है।


जानकरी के मुताबिक गौराबादशाहपुर थाना क्षेत्र के धर्मापुर ठकुरची गांव निवासी कोमल यादव (38) ने पहले बेटे आदित्य यादव (12) को विषाक्त पदार्थ खिलाया फिर खुद खा लिया. हालत बिगड़ने पर परिजनों में हड़कंप मच गया। दोनों बाप-बेटे को आनन-फानन में 108 एंबुलेंस से जिला अस्पताल जौनपुर ले गए। जहां पर इलाज के दौरान कोमल यादव ने दम तोड़ दिया। डाक्टरों ने प्राथमिक इलाज के बाद बेटे आदित्य की हालत नाज़ुक देखते हुए बीएचयू ट्रामा सेंटर के लिए रेफर कर दिया। मृतक के परिजनों के दबी जुबान के अनुसार कोमल विगत चार वर्ष एक लंबी बीमारी से लड़ रहा था, जिसको लेकर हमेशा तनाव में रहता था। वहीं मृतक के दो पुत्र व एक पुत्री है। पत्नी की मौत दो वर्ष पूर्व ही हो गया था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।


संक्रमण वृद्धि में प्रदूषण बड़ा सहायक

न्यूयॉर्क। कोरोना वायरस संक्रमण और वायु प्रदूषण के बीच संबंध उजागर करने वाली एक अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के उन शहरों में कोरोना संक्रमण से मौत होने के ज्यादा मामले सामने आए हैं जिनमें वायु प्रदूषण का स्तर तुलनात्मक रूप से अधिक है।
स्वास्थ्य क्षेत्र में कार्यरत अग्रणी अमेरिकी संस्थान ‘हार्वर्ड टी एच चान स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ’ की हाल ही में प्रकाशित अध्ययन रिपोर्ट के अनुसार, वायु प्रदूषण की अधिकता वाले इलाकों में कोविड-19 के मरीजों की मौत के ज्यादा मामले सामने आए हैं। इसके अनुसार अमेरिका के 3080 कांउटी में वायु प्रदूषण के स्तर और कोरोना से हुई मौत के तुलनात्मक अध्ययन के आधार पर यह बात सामने आई है
अध्ययन रिपोर्ट में अमेरिकी शहरों में प्रदूषण की मात्रा और कोरोना वायरस संक्रमण से मौत के आंकड़ों को सूचीबद्ध नहीं किया गया है, बल्कि अध्ययन में शामिल विभिन्न कांउटी (अमेरिका में एक कांउटी में कुछ शहर और कस्बे होते हैं) में प्रदूषण और आबादी सहित अन्य मानकों के आधार पर कोरोना के असर संबंधी चार अप्रैल तक जुटाए गए आंकड़ों के आधार पर तुलनात्मक अध्ययन किया गया है।
इसमें पाया गया कि मेनहट्टन कांउटी में जिन शहरों में पिछले 20 साल में पीएम 2.5 का औसत स्तर एक यूनिट अर्थात एक माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से कम पाया गया, उनकी तुलना में इस कांउटी में कोरोना से 248 कम मौतें हुईं। इसके अनुसार वाहन, तेल शोधन एवं बिजली संयंत्रों के कारण वायु प्रदूषण का सामना कर रहे अमेरिकी शहरों में, उन शहरों की तुलना में कोरोना से अधिक मौत हुईं जिनमें वायु प्रदूषण या तो तुलनात्मक रूप से कम है या प्रदूषण की वजह इन तीन कारणों से इतर कुछ और है।
अध्ययन में शहर की आबादी, अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या, कोरोना का परीक्षण किए गए मरीजों की संख्या, मौसम, सामाजिक आर्थिक स्थिति और लोगों के बर्ताव, जिसमें मोटापे की प्रवृत्ति और धूम्रपान की आदत को प्रमुख मानक के तौर पर शामिल किया गया। इसके आधार पर अध्ययन में पाया गया कि कोरोना से हुयी मौत की दर को बढ़ाने में वायु प्रदूषण के लिए जिम्मेदार पार्टीकुलेट तत्व (पीएम 2.5) के संपर्क में अधिक समय तक रहना, एक वजह के रूप में सामने आया है।
शोधकर्ताओं के मुताबिक कई दशक तक वायु प्रदूषण की अधिकता वाले इलाके में रहने वालों के लिये कोरोना से मौत का खतरा 15 प्रतिशत ज्यादा पाया गया जबकि जिन शहरों में वायु प्रदूषण नियंत्रित था, उनके निवासियों के लिए यह खतरा 15 प्रतिशत कम पाया गया।
रिपोर्ट में मौजूदा परिस्थितियों के आधार पर भविष्य के बारे में आगाह भी किया गया है कि अधिक वायु प्रदूषण वाले डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया में, कम वायु प्रदूषण वाली पड़ोसी कांउटी मोंटगोमरी की तुलना में कोरोना से मौत के अधिक मामले सामने आ सकते हैं। इसी प्रकार शिकागो में पड़ोस के इलाके लेक कांउटी और अटलांटा में पड़ोस की डगलस कांउटी की तुलना में कोरोना की अधिक गंभीर स्थिति का हवाला देते हुए इसे इन शहरों में अधिक वायु प्रदूषण होने से जोड़ा गया है। इस आधार पर रिपोर्ट में शिकागो और अटलांटा में लेक तथा डगलस कांउटी की तुलना में कोरोना से मौत की दर अधिक रहने के प्रति आगाह किया है। अध्ययन दल में शामिल वरिष्ठ वैज्ञानिक फ्रांसिस्का डोमिनिकी ने इस बात के लिए आगाह भी किया कि अधिक वायु प्रदूषण वाली कांउटी में न सिर्फ कोरोना के मरीजों की संख्या अधिक होगी बल्कि इनकी मौत के ज्यादा मामले भी सामने आने का खतरा है। इसके मद्देनजर उन्होंने वायु प्रदूषण नियंत्रण के उपायों को युद्धस्तर पर सुचारु रखने के महत्व को रेखांकित करते हुये कोरोना संकट के बाद भी मानव स्वास्थ्य की खातिर हवा को साफ बनाने को प्राथमिकता देने को अनिवार्य शर्त बताया।


वुहान की संदिग्ध लैब का बडा खुलासा

न्यूयॉर्क। कोरोना वायरस सबसे पहले चीन के वुहान शहर में फैला। बाद में चीन ने दावा किया कि यह जंगली जीवों के मार्केट से इंसानों में आया। फिर पता चला कि ऐसे वायरस चमगादड़ में पाए जाते हैं, इसलिए हो सकता है कि यह चमगादड़ से इंसानों में आया। इसके बाद चीन के एक लैब पर गंभीर सवाल उठने लगे। वजह ये थी कि यह लैब वुहान के जंगली जीवों के मार्केट से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह लैब आलीशान है और इस तरह के वायरस पर रिसर्च करने के लिए चीन की सबसे बड़ी लैब भी है। अब इस संदिग्ध लैब के अमेरिकी कनेक्शन का बड़ा खुलासा हुआ है।


2 कोरोना: वुहान की संदिग्ध लैब पर बड़ा खुलासा, निकला ये अमेरिकी कनेक्शन
डेली मेल ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि कुछ दस्तावेजों से ये जानकारी मिली है कि अमेरिकी सरकार ने वायरस पर प्रयोग करने वाले वुहान लैब को 28 करोड़ रुपये दिए. ये रुपये बीते कई सालों के दौरान दिए गए। इस खुलासे के बाद अमेरिका के कई नेता भी हैरान रह गए।


3 कोरोना: वुहान की संदिग्ध लैब पर बड़ा खुलासा, निकला ये अमेरिकी कनेक्शन
कुछ लोग चीन पर सवाल उठाते हुए कहते हैं कि वुहान के वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट (Wuhan Institute of Virology) में हो सकता है कि चमगादड़ पर प्रयोग के दौरान कोरोना वायरस लीक हो गया हो और बाद में चीन ने इसे जीवों के मार्केट से फैला वायरस कहा हो। ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की इमरजेंसी कमेटी कोबरा के सदस्य ने भी लैब से वायरस फैलने की थ्योरी को भरोसेमंद कहा था।


4 कोरोना: वुहान की संदिग्ध लैब पर बड़ा खुलासा, निकला ये अमेरिकी कनेक्शन
अमेरिकी नेताओं ने अपने देश की ओर से चीनी लैब को फंड दिए जाने पर कड़ा ऐतराज जताया है। कुछ अमेरिकी नेताओं का कहना है कि जानवरों पर किए जाने वाले खतरनाक और हिंसक प्रयोग के लिए ये फंड दिए गए।


5 कोरोना: वुहान की संदिग्ध लैब पर बड़ा खुलासा, निकला ये अमेरिकी कनेक्शन
अमेरिका के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ की ओर से वुहान के वायरोलॉजी इंस्टीट्यूट को 28 करोड़ रुपये दिए गए। अमेरिकी सांसद मैट गेट्ज ने कहा- ‘शायद दुनिया भर में कोरोना फैलने में जिस चीनी लैब का योगदान है, उसे अमेरिकी फंड दिए जाने की खबर से मैं बहुत खराब महसूस कर रहा हूं।


6 कोरोना: वुहान की संदिग्ध लैब पर बड़ा खुलासा, निकला ये अमेरिकी कनेक्शन
शनिवार को अमेरिका के व्हाइट कोट वेस्ट नाम के समूह के अध्यक्ष एंथनी बेलॉटी ने भी चीन को अमेरिकी मदद दिए जाने की निंदा की थी। एंथनी ने कहा था- ‘हो सकता है कि चीनी लैब में वायरस से संक्रमित किए गए जीव या किसी और तरीके से बीमार और प्रताड़ित किए गए जीवों पर प्रयोग पूरा होने के बाद उन्हें जंगली जीवों के मार्केट में बेच दिया गया हो।


7 कोरोना: वुहान की संदिग्ध लैब पर बड़ा खुलासा, निकला ये अमेरिकी कनेक्शन
कुछ दिनों पहले ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की इमरजेंसी कमेटी कोबरा के एक सदस्य ने कहा था कि साइंटिफिक तौर से अब भी इस बात में वजन है कि खतरनाक वायरस वुहान स्थित जानवरों की मार्केट से इंसानों में पहुंचा, लेकिन ‘वायरस के नेचर को देखते हुए विश्वास करने योग्य वैकल्पिक थ्योरी है। मुमकिन है कि वुहान में उस लैब का होना संयोग ना हो। इसे खारिज नहीं किया जा रहा।


दक्षिण एशियाई देशों को चेतावनी

कोरोना संकट के बीच वर्ल्ड बैंक ने साउथ एशियाई देशों को दी ये चेतावनी


सभी दक्षिणी एशिया की सरकारों के लिए प्राथमिकता यही है कि वो कोरोना महामारी फैलने पर रोक लगाएं और ज्यादा से ज्यादा लोगों को बचाएं। खासकर समाज के उन लोगों को जिनके स्वास्थ्य और आर्थिक हालात दोनों कमजोर हैं। कोरोना और आर्थिक संकट से निपटना चुनौती
गरीब-असंगठित मजदूरों को बचाए सरकार
नई दिल्ली। कोरोना महामारी आने वाले समय में दक्षिणी एशिया के लिए बहुत बड़ा संकट बनकर उभरने वाला है। क्योंकि इस बीमारी से निकलने के बाद दक्षिणी एशिया के सभी देशों के सामने गरीबी से उभरने की चुनौती होगी। वर्ल्ड बैंक ने रविवार को एक रिपोर्ट जारी करते हुए सभी देशों से आर्थिक विकास की दिशा में सकारात्मक फैसले लेने की अपील की है।


बैंक ने कहा है कि दक्षिणी एशिया की सभी सरकारों को स्वास्थ्य आपातकाल से निपटने के लिए तेजी से काम करना होगा। खासकर समाज के गरीब और बुजुर्गों (बुजुर्गों में संक्रमण का खतरा सबसे अधिक है) के बचाव लिए जल्द से जल्द बड़े फैसले लेने होंगे। साथ ही आने वाले समय में आर्थिक रिकवरी के लिए जरूरी फैसलों पर भी विचार करना होगा। वर्ल्ड बैंक की ताजा रिपोर्ट ‘साउथ एशिया इकोनॉमिक फोकस’ ने आठ देशों में आर्थिक गिरावट का अनुमान जताया है। इसके पीछे की वजह है आर्थिक क्रियाकलापों में ठहराव, व्यापार का खत्म होना, फाइनेंशियल और बैंकिंग सेक्टर पर भारी बोझ।


वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक 2020 में क्षेत्र की विकास दर 1.8% से 2.8% के बीच रहेगी। ताजा रिपोर्ट छह महीने पहले के उस अनुमान से अलग है जिसमें विकास दर 6.3 प्रतिशत रहने की बात कही गई थी।


रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण एशिया 40 वर्षों में पहली बार इतनी खराब विकास दर का सामना करेगा। इतना ही नहीं रिपोर्ट में इस बात की चेतावनी भी दी गई है कि लॉकडाउन अगर आगे भी जारी रहा तो आने वाले समय में विकास दर निगेटिव में जा सकती है। यानी कि शून्य से भी नीचे। दक्षिण एशिया क्षेत्र के वर्ल्ड बैंक चीफ इकोनॉमिस्ट हंस टिम्मर ने कहा, ‘वैसे तो यह पूरा क्षेत्र ही नेगेटिव विकास दर की तरफ बढ़ रहा है लेकिन सबसे खराब हालत मालदीव, अफगानिस्तान, पाकिस्तान और श्रीलंका की होने वाली है।’
उन्होंने बताया कि अन्य देश भी कुछ समय के लिए मंदी के दौर से गुजरेंगे लेकिन इस वित्तीय वर्ष में उनकी वृद्धि दर पॉजिटिव रह सकती है। उदाहरण के तौर पर भारत में सालाना विकास दर 1.5 से 2.8 प्रतिशत के बीच रहने का अनुमान है। लेकिन अगर हालात बहुत ज्यादा खराब हुए तो सभी देशों की विकास दर में और कमी भी देखी जा सकती है।


वहीं हार्टविग स्कैफर (दक्षिणी क्षेत्र के वर्ल्ड बैंक वाइस प्रेसिडेंट) ने कहा है, ‘सभी दक्षिणी एशिया के सरकारों के लिए प्राथमिकता यही है कि वो कोरोना महामारी फैलने पर रोक लगाएं और ज्यादा से ज्यादा लोगों को बचाएं. खासकर समाज के उन लोगों को जिनके स्वास्थ्य और आर्थिक हालात दोनों कमजोर हैं। उन्होंने आगे कहा कि कोरोना काल, भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए नए फैसले लेने का भी समय है, जिससे कि इस महामारी के खत्म होने के बाद इस क्षेत्र को एक अच्छी शुरुआत मिल सके। अगर आप अच्छे फैसले लेने में असफल रहते हैं तो लंबे समय तक आर्थिक रुकावटों का सामना करना पड़ सकता है। सर कम आय वाले लोग, खासकर हॉस्पिटैलिटी (आतिथि सत्कार) सेक्टर में काम करने वाले असंगठित मजदूर, रिटेल व्यापार और ट्रांसपोर्ट सेक्टर्स में काम करने वाले मजदूरों पर होगा। जिनके पास कोई स्वास्थ्य या सामाजिक सुरक्षा नहीं है।


सनसनीः अधेड़ की गोली मारकर हत्या

गोलीमार कर अधेड़ की हत्या


मिर्जापुर। विंध्याचल थाना क्षेत्र में अमरावती चौराहा के पास एक व्यवसाई की अज्ञात बदमाशों ने  गोली मारकर आज शनिवार को देर रात हत्या कर दी घटना की जानकारी होने पर  क्षेत्र में  सनसनी फैल गई। 


प्राप्त जानकारी के अनुसार विन्ध्याचल अमरावती चौराहा के समीप स्थित पेट्रोल पंप के समीप आटा चक्की व्यवसायी राधेश्याम मौर्या उम्र लगभग 60 वर्ष की बाइक सवार अज्ञात हमलावरों ने दुकान के अंदर घुसकर गोली मारी इलाज के दौरान जिला अस्पताल में डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया ।घटना स्थल पर एसपी सिटी प्रकाश स्वरूप पांडेय थाना प्रभारी वेद प्रकाश राय दलबल के साथ मौजूद थे हत्या का कारण स्पष्ट नही हो सका। घटना की जानकारी होने पर पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह भी घटना स्थल पर  पहुंच गए थे।


जिला संवाददाता राजकुमार


ट्रैक्टर के नीचे दबने से 3 की मौत, घायल

ढलान में खड़ा ट्रेक्टर नीचे उतरा, 3 की मौत 1 घायल


आशीष उपाध्याय
चित्रकूट। मऊ कोतवाली क्षेत्र के बारिया गांव में ढलान पर खड़ा ट्रैक्टर अचानक ढाल से नीचे उतर गया, जिसकी चपेट में आने से श्याम सुंदर पुत्र गोरेलाल उम्र 75 वर्ष की मौके पर मौत हो गयी, वही बब्बू पुत्र बजरंगा उम्र 40 वर्ष  की जिला अस्पताल में मौत हुयी व कुंती पत्नी शारदा उर्फ कल्लू उम्र 65 वर्ष की प्रयागराज ले जाते समय रास्ते मे मौत हो गयी,वही गम्भीर रूप से घयाल रामबाबू चौकीदार का इलाज जारी है, पुलिस मौके पर पहुंची।


वही घटना की जानकारी देते हुये प्रभारी निरीक्षक मऊ सुभाष चौरसिया ने बताया कि यह घटना दोपहर बाद कि बतायी जा रही है किसी ने थाने में सूचना तक नही दी देर शाम ग्रामीणों द्वारा दी गयी सूचना पर पहुचे तब तक पहुचने से पहले एक का दाह संस्कार कर दिया गया परिजनों द्वारा तथा 2 लोगो के शव मर्चरी हाउस में है।


मौके पर पहुची पुलिस घटनास्थल पर कर रही बारीकी से निरीक्षण, घटना मऊ कोतवाली क्षेत्र के बारिया गांव की।


आवश्यक मामलों की सुनवाई होगी

नैनीताल। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए उत्तराखंड हाईकोर्ट में 15 अप्रैल से आवश्यक मामलों की सुनवाई विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये होगी। शनिवार को हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल हीरा सिंह बोनाल द्वारा जारी अधिसूचना में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से होने वाली सुनवाई के लिये विस्तृत दिशा निर्देश दिए गए हैं, जिसे हाईकोर्ट की बेवसाइड में देखा जा सकता है।
इस अधिसूचना में बताया गया है कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में केवल आवश्यक मामलों की ही सुनवाई होगी। ऐसे मामले को अधिवक्ता द्वारा पीडीएफ फाइल के जरिये हाईकोर्ट की ई-मेल में भेजा जाएगा। हिाईकोर्ट के रजिस्ट्रार न्यायिक इसकी जांच करेंगे और यदि रजिस्ट्रार न्यायिक मामले को आवश्यक मामले की श्रेणी में पाएंगे तो तभी मामलो को मुख्य न्यायाधीश के समक्ष भेजेंगे और उसके बाद मुकदमा सुनवाई के लिये दर्ज होगा। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सुनवाई के लिये अधिवक्ता के पास हार्डवेयरध्सॉफ्टवेयर की सुविधा होनी आवश्यक है। जो अपने ऑफिस या घर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में जुड़ेंगे। इसके लिये अधिवक्ताओं को अपने मोबाइल,कम्प्यूटर या लैपटॉप में ‘जितसी मीट’ या वीडियो मोबाइल डेस्कटॉप सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर इनस्टॉल करना होगा। सुनवाई की तिथि व समय कोर्ट द्वारा ई-मेल व अन्य संचार माध्यमों से दी जाएगी। सुनवाई के समय अधिवक्ता को कोर्ट की गरिमा व प्रोटोकॉल का ध्यान रखना होगा चाहे वह मुकदमे में बहस अपने घर से ही क्यों नही कर रहा हो। मुकदमे की सुनवाई के दौरान सभी पक्षो और कोर्ट प्रक्रिया की रिकॉर्डिंग प्रतिबंधित रहेगी। कोर्ट के आदेश की प्रति भी ई-मेल से ही अधिवक्ताओं को भेजी जाएगी। जिन अधिवक्ताओं के पास वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा अपने घर पर है तो वे अपने घर से ही बहस कर सकते है जिनके पास ये सुविधा नही है उनके लिए यह सुविधा कोर्ट में उपलब्ध है।


पालिका अध्यक्ष ने खुद संभाली कमान

नैनीताल। निकटवर्ती भवाली नगर में शनिवार को नगर पालिका अध्यक्ष संजय वर्मा ने नगर के बाजार व नगर से गुजरने वाले वाहनों को सैनिटाईज करने का जिम्मा खुद संभाला। इस दौरान पालिका अध्यक्ष संजय वर्मा, ईओ ईश्वर सिह रावत, सभासद किशन अधिकारी, पूर्व सभासद इदरीश खान, पालिका लिपिक इंदर कपिल, मनोज तिवाडी, योगेश कुमार, दीपक भंडारी, रमेश भट्ट, राजा राम वाल्मिकी, समाजसेवी मनोज नयाल, मनीष साह, संजयलोहनी, कंचन बेलवाल, किशन नयाल, सोनू सिजवाली व दीपू कपिल आदि ने भवाली नगर व बाजार में आने-जाने वाले वाहनों को सैनिटाईज किया। साथ ही लोगों को सोसियल डिस्टेंसिंग व मुंह को मास्क, गमछे या रुमाल से ढककर रखने के लिए जागरूक किया।


निजी स्तर पर दान करें विधायक-सांसद

अपने निजी पैसे से दान दे सांसद,विधायक :-बिट्टू सिखेड़ा


मुज़फ्फरनगर। देश कोरोना  महामारी से जूझ रहा है। लॉक डाउन के कारण काम-काज ठप पड़े है। जाहिर सरकार को भी आमदनी नही हो रही है। ऐसे में सरकार को रोज मर्रा की जरूरतों को पूरा करने और मेडिकल सुविधाओं के लिए पैसे की जरूरत पड़ रही है। जिसके लिए प्रधानमंत्री के साथ साथ सभी प्रदेश के मुख्यमंत्री भी जनता से दान देने के लिए आग्रह कर रहै हैं। दान भी वही दे सकता है, जिसके पास पैसा होगा। या जिसने अधिक मात्रा में पैसा अपने पास इकट्ठा कर रखा है या जिसे निरंतर कमाई हो रही है।


शिवसेना के जनपद मुजफ्फरनगर जिला प्रमुख बिट्टू सिखेड़ा ने अलग-अलग दो वीडियो सोशल मीडिया के माध्यम से जारी करते हुए देश के सांसदों के साथ-साथ विधायकों से भी अपने निजी पैसे से दान देने का आग्रह किया। बिट्टू से सिखेड़ा ने अपनी वीडियो में सांसद और विधायकों को कहा कि वह अपना पैसा दान दे। सांसद निधि और विधायक निधि तो जनता की ही है। वह तो फिर भी जनता के विकास कार्यों के लिए ही खर्च होने थी। सांसद और विधायकों का मासिक वेतन लाखों में होता है। इसलिए सांसद विधायकों को आगे आकर अपने निजी वेतन से दान करना चाहिए। दूसरी वीडियो में बिट्टू सिखेड़ा ने कहा कि जितने भी सांसद निधि के ठेकेदार है या विधायक निधि के ठेकेदार हैं या फिर जिला पंचायत निधि के ठेकेदार हैं सभी को दान देना चाहिए। इन ठेकेदारों ने अभी तक कोई दान नही दिया।
विदित है कि सभी सरकारी ठेकेदार सरकार द्वारा दिए गए कार्यों से ही पैसा कमाते हैं। जिनकी आमदनी प्रतिमाह लाखों में होती है।


मनोज पाल


मेरठः सेनीटाइज गैलरी का उद्घाटन

सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने मेरठ कलेक्ट्रेट में सेनिटाइजर गैलरी का उद्घाटन किया

मेरठ। कोरोनावायरस से निपटने के लिए जिला प्रशासन ने पूरी तरीके से अपनी कमर कस रखी है जहां आज सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने मेरठ कलेक्ट्रेट में सेनिटाइजर गैलरी का उद्घाटन किया। और इस गैलरी में निकल कर ही प्रशासनिक अधिकारी अपने काम को पूर्ण करेंगे। और कोरोनावायरस से जंग लड़ सकेंगे।


दरअसल मेरठ में कोरोनावायरस से निपटने के लिए और कामकाज को बेहतर और निडर होकर करने के लिए जिला प्रशासन ने अपनी व्यवस्थाओं को विस्तृत किया है जहां पहले छावनी परिषद उसके बाद सदर थाना और पुलिस लाइन में सैनिटाइजर गैलरी लगाई गई थी वहीं अब मेरठ कलेक्ट्रेट में भी जिला प्रशासन ने सेनेटाइज़ गैलरी लगाई है इसका उद्घाटन बाकायदा सांसद राजेंद्र अग्रवाल और जिलाधिकारी मेरठ अनिल धींगड़ा ने किया है सांसद राजेंद्र अग्रवाल ने कहा कि यह बेहतर है जरूरी है प्रशासन सबकी सेवा में लगा है ऐसे में प्रशासन को दुरुस्त रहना होगा और अपने कामकाज करने के लिए सैनिटाइज होना होगा जिलाधिकारी की माने तो सैनिटाइजर गैलरी के लिए उन पर पर्यावरण फंड है और लगातार वह जगह-जगह सेनिटाइजर गैलरी लगाते जा रहे हैं जहां मेरठ के कई इलाकों में यह प्रस्तावित है।


 


मस्जिदों में ही क्वॉरेंटाइन किए 42 लोग

गोरखपुर। मस्जिदों में ही क्वारंटीन किए गए तबलीगी जमात के 42 लोगों को शनिवार को बशारतपुर स्थित रैन बसेरे में शिफ्ट कर दिया गया। प्रशासन ने यहां उनके खाने पीने का भी इंतजाम कर दिया है। लॉकडाउन खत्म होने के बाद उन्हें घर रवाना किया जाएगा। ये जमाती मरकज में हुए जलसे में शामिल होने वाले नहीं हैं बल्कि दीन के काम में लगे हुए थे। 


निजामुद्दीन मरकज में सैकड़ों जमातियों के शामिल होने का मामला सामने आने बाद यूपी में उनकी तलाश शुरू हो गई थी। गोरखपुर की कई मस्जिदों में लॉकडाउन से पहले कई जमाती ठहरे भे थे। इन लोगों ने खुद ही एलआईयू को अपने यहां होने की जानकारी लिखित में दी थी। इसके बाद उन्हें मस्जिदों में ही क्वारंटीन कर दिया गया था। शनिवार को प्रशासन ने एम्बुलेंस भेजकर इन जमातियों को मस्जिदों से निकालकर बशारतपुर स्थित रैन बसेरे में शिफ्ट किया गया।
 
तिवारीपुर के मोहनलालपुर व सिधारीपुर मस्जिद से 30 व मानबेला गुलरिहा से 12 जमाती इस क्वारंटीन सेंटर में भेजे गए हैं। यहां उनके खाने पीने का भी इंतजाम प्रशासन ने कराया है। 70 बेड वाले इस सेंटर में सिर्फ जमाती ही रखे जाएंगे। सभी जमातियों की कोरोना जांच निगेटिव पाई गई है। प्रशाासन ने बताया है कि लॉकडाउन के बाद उन्हें उनके घर भेज दिया जाएगा। इनमें लखनऊ व बिहार ज भी जमाती शामिल हैं। जो दीन के काम मे लगे थे।


तालाब किनारे मिला नवजात का शव

रायपुर। वे मां बाप कैसे होते हैं जो अपनी ही संतान को जन्म देने के बाद लाड़ प्यार से पालने के बाद उसे फेंक देते हैंं। उपभोक्तावादी संस्कृति का सबसे बड़ा नुकसान यह हुआ है कि अब लोग दिनोंदिन संवेदनहीन हो रहे हैं। उरला थाने से मिली जानकारी के अनुसार इसी कड़ी में अज्ञात माता-पिता द्वारा अपने नवजात शिशु आयु 5-6 माह को बांधा तालाब के किनारे मारकर फेंक दिया गया। उक्त नवजात शिशु का शव बरामद कर उरला थाने ने अज्ञात के खिलाफ आईपीसी की धारा 318 के तहत मामला कायम कर जांच शुरू कर दी है।


महाराष्ट्रः संक्रमण अनुसार 3 जोन बनेंगे

मुंबई। महाराष्ट्र कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है। यहां एक हजार 778 मामले सामने आ चुके हैं और मौतों की संख्या 127 तक पहुंच गई। संक्रमितों की तादाद में लगातार इजाफा होता जा रहा है। दक्षिण मुंबई में होटल ताज महल पैलेस के कम से कम छह कर्मचारी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। ताज होटल का संचालन करने वाली इंडियन होटल्स कंपनी (आईएचसी) ने कर्मचारियों में संक्रमण की पुष्टि की है। हालांकि, संख्या के बारे में स्पष्ट नहीं किया है। दरअसल, होटल ने कोरोना संक्रमण से लड़ रहे स्वास्थ्य कर्मियों और चिकित्सकों को ठहरने की व्यवस्था की है। इसके बाद उसने अपने 500 कर्मचारियों की जांच कराई थी। इनमें से शनिवार को 6 में संक्रमण की बात सामने आई है।


रविवार को 17 नए केस आए हैं। इसे मिलाकर राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 1778 पर पहुंच गई है। इस बीच, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने संकेत दिए हैं कि लॉकडाउन पार्ट-2 अब और ज्यादा सख्त होगा। संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए राज्य को तीन जोन में बांटा गया है।


महाराष्ट्र को तीन जोन में बांटा गया:


संक्रमण से निपटने के लिए राज्य सरकार ने 15 से ज्यादा मरीजों वाले जिलों को रेड जोन में रखा है। इससे कम वालों को ऑरेंज जोन और जहां एक भी मरीज नहीं है उसे ग्रीन जोन में रखा गया है। माना जा रहा है कि इसी के आधार पर अगले लॉकडाउन का एक्शन प्लान तैयार किया जाएगा।


रेड जोन: मुंबई, ठाणे, पालघर, पुणे, नागपुर, रायगढ़, सांगली और औरंगाबाद।


ऑरेंज जोन: रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, सातारा, कोल्हापुर, नाशिक, अहमदनगर, जलगांव, उस्मानाबाद, बीड, जालना, हिंगोली, लातूर, अमरावती, अकोला, यवतमाल, बुलढाणा, वाशिम और गोंदिया।


ग्रीन जोन: धुले, नंदुरबार, सोलापुर, परभणी, नांदेड़, वर्धा, चंद्रपुर, भंडारा और गढ़चिरौली शामिल हैं।


जरूरतमंद को नहीं मिल रहा भोजन

अफसरो की हीला हवाली के चलते हर जरूरतमंद तक नहीं पहुंच रहा भोजन- राष्ट्रीय किसान मंच प्रदेश उपाध्यक्ष सर्वेश पाल
अफसरों की हीला हवाली के चलते हर जरूरतमंद तक नहीं पहुंच रहा भोजन- राष्ट्रीय किसान मंच प्रदेश उपाध्यक्ष सर्वेश पाल


खेती व कटाई कार्य प्रभावित होने के कारण किसानों को भी राहत दिए जाने वह मजदूर वह गरीबों को राशन दिलाना की मांग 


 उन्नाव। प्रदेश सरकार के द्वारा अधिकारियों को लगातार निर्देश दिए जा रहे हैं कि लाक डाउन के दौरान कोई भी भूखा ना रहने पाए इसके लिए गरीबों व मजदूरों को भोजन सामग्री मुहैया कराई जाए सरकार के आदेश के बाद भी तमाम इलाकों में काफी संख्या में गरीब मजदूरों तक भोजन सामग्री नहीं पहुंच पा रही है। इसके लिए अधिकारियों की हिला हवाली जिम्मेदार है। यह कहना है राष्ट्रीय किसान मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष सर्वेश पाल ने कहा की कोरोनावायरस को लेकर जारी लाक डाउन के चलते कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे इसको लेकर सरकार ने हर तहसील वह जगह-जगह कम्युनिटी किचन खुलवाने का आदेश दे रखा है। लेकिन आज भी गोवा शहर में तमाम गरीब ऐसे हैं जिनको ना तो भोजन ही उपलब्ध हो पा रहा है और ना ही भोजन सामग्री चाहे वह ग्रामीण क्षेत्र हो या शहरी क्षेत्र क्योंकि गरीब पात्र आज भी राशन कार्ड से वंचित हैं। यदि राशन कार्ड गरीब व्यक्तियों का होता तो कम से कम राशन तो उन लोगों को मिल जाता दिहाड़ी मजदूर की कमर टूट चुकी है आदेश सिर्फ हवा हवाई चल रहे हैं। श्रीपाल ने कहा कि अधिकारियों की हीला हवाली के चलते आज भी तमाम गरीब ऐसे हैं। जिनको भोजन वह राशन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है साथ ही उन्होंने यह भी कहा की गेहूं की कटाई का समय चल रहा है। लेकिन गेहूं काटने की मशीन तक गांव गांव नहीं पहुंच पा रही है इसके अलावा कृषि यंत्र चाहे वह ट्रैक्टर हो या थ्रेसर इन यंत्रों के अगर पाठ ऐसे में खराब हो जाएं तो वह भी मिल पाना मुश्किल है। जिसके चलते किसान जो हम सभी के लिए अन्नदाता माना गया है। लाख डाउन के चलते वह काफी परेशान है। जिससे किसान की गेहूं की कटाई में भी काफी विलंब हो रहा है। किसान नेता ने कहा कि पिछले 2 माह पूर्व आंधी पानी बरसात विभीषण ओलावृष्टि से किसान वैसे भी अधमरा हो चुका है। उसकी लाखों बीघा गेहूं की फसल बर्बाद हो गई है लेकिन सरकार द्वारा मिलने वाला मुआवजा तो दूर अभीतक अधिकारियों ने सर्वे रिपोर्ट तक नहीं सौंपी है। बताते चलें किसान नेता लगातार गरीब मजदूर किसानों के हक के लिए संघर्ष किया करते हैं।


आवश्यक वस्तु की श्रेणी में अंडा-मछली

 सुनील पुरी


कानपुर। जिलाधिकारी डॉ ब्रह्मदेव राम तिवारी महोदय ने निर्देशित करते हुए कहा कि फूड सांखला में कई जगह से आने वाले बिंदुओं जिनमें चिकन ,अंडा ,मछली इत्यादि जो भी  प्रोडक्ट है। इनकी बिक्री किस तरह से हो यह आवश्यक सेवाओं की श्रेणी में है कि नहीं इस पर जिलाधिकारी महोदय ने निर्देशित करते हुए कहा कि यह आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में है। इनकी भी बिक्री हेतु उन्होंने निर्देशित करते हुए कहा कि होम डिलीवरी के माध्यम से अन्य आवश्यक वस्तुओं की ही तरह इसकी भी बिक्री की जा सकती है ,इन पर किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं है और इसके लिए ठेला ठेलीया जो भी वाहन है उनका थाने के माध्यम से या संबंधित मजिस्ट्रेट के माध्यम से इनका  रजिस्ट्रेशन कराते हुए पास बना ले  जिससे किसकी भी बिक्री की जा सके    इसके लिए  किसी तरह का कोई प्रतिबंध नहीं है, साथ ही डेयरी इकाइयों की तरह जो भी व्यक्ति इस कार्य में लगे हैं  वह भी  सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन करते हुए  होम डिलीवरी कर सकते हैं।


फेसिंग तार में फंसकर हिरण की मौत

जितेन्द्र पाठक


लोरमी। लोरमी थाना के खुड़िया वन क्षेत्र से भटक कर एक हिरण जंगल से काफी दूर साल्हेघोरी गांव पहुंचा भटकता हुआ हिरण गांव के शासकीय उपस्वास्थ्य केंद्र में घेरे के लिए लगे फेंसिंग तार में फंस गया औऱ तार में उलझकर इस वन्यजीव की मौत हो गई। हालांकि मौजूद स्वास्थ्यकर्मियों ने कुछ प्रयास किया लेकिन वो नाकाम रहे वन्यजीवों में हिरण को बहुत ही  नाजुक प्राणी माना जाता है औऱ हल्के से भय झटके में ही उसके प्राण निकल जाता है। बताया जाता है कि जंगल से भटका ये हिरण दो दिनों से गांव के आसपास भटक रहा था औऱ आशंका जताई जा रही है कि कुत्तों के द्वारा दौड़ाए जाने से ये वन्यजीव तार में फंसा होगा औऱ इसकी मौत हुई होगी। कोरोना संक्रमण के चलते लॉक डाउन है धारा 144 लागू है उसके बावजूद लोग लॉकडाउन के निर्देशों का उल्लंघन करते हुए मृत हिरण को देखने भीड़ लगाने लगे जिसको देखते हुए मौजूद स्वास्थकर्मियों औऱ ग्रामीण युवकों ने भीड़ को घरों में वापस जाने के लिए कहे वही वनविभाग की लापरवाही एक बार फिर देखने को वन विभाग को सूचना देने के बाद भी काफी देर के बाद वन विभाग की टीम घटना स्थल पहुची प्रत्यक्षदर्शियों में एक शासकीय उपस्वास्थ्य केंद्र के दीप सिंह ने बताया कि जंगल से भटका ये हिरण तार में फंसकर तड़प रहा था। जिससे वहां उसे पानी पिलाकर उसकी सेवा कर रहे थे जिससे उसकी स्थिति सुधर सके औऱ वनविभाग को सूचना दी गई। लेकिन अंतत हिरण की मौत हो गई।


वनविभाग की टीम ने हिरण के शव का पंचनामा बनांकर खुड़िया वन परिक्षेत्र के कारीडोंगरी ले गए जहां इस वन्यजीव का पोस्टमार्टम कर अंतिम संस्कार किये।


छत्तीसगढ़ः 30 संक्रमित, कोई मौत नहीं

कोरबा/बिलासपुर। छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले के कटघोरा में रविवार दोपहर कोरोना के 4 और पॉजिटिव मरीज मिले हैं। वहीं बिलासपुर से भी एक मरीज मिला है।इसे मिलाकर अब छत्तीसगढ़ में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 20 हो गई है। रविवार को जो पॉजीटिव सामने आए हैं, उनके चारों मरीज कटघोरा से ही हैं। जो कि एक ही मोहल्ले के रहने वाले हैं। कलेक्टर किरण कौशल ने इस खबर की पुष्टि कर दी है।


मालूम हो, कि 8 अप्रैल की रात को कटघोरा से 1 पॉजिटिव मरीज को भर्ती किया गया था। इसके बाद 9 अप्रैल को 7 मरीज और 11 अप्रैल को 7 नये कोरोना पॉजिटिव मिले थे, जिसके बाद आज फिर 4 नए कोरोना पॉजिटव केस कटघोरा से ही सामने आए हैं। सभी एम्स रायपुर के लिए रवाना किया गया है। अब एम्स रायपुर में कटघोरा और बिलासपुर के कुल 20 कोरोना प्रभावित मरीज भर्ती होंगे, इलाज के बाद स्वस्थ हुए 10 मरीज को मिलाकर राज्य में अब तक कुल 30 केस पाये गए हैं।


 


पुलिस पर तलवार से हमला, काटे हाथ

चडीगढ़। पटियाला की सब्जी मंडी सनौर रोड पर कर्फ्यू के दौरान सब्जी लेने पहुंचे लोगों ने पुलिस की टीम पर तलवार से हमला कर दिया. इस हमले में एक पुलिसवाले की हाथ कट गई, जबकि दो पुलिसवाले बुरी तरह जख्मी हो गए


निहंगों ने किए हमलेः पुलिस ने बताया कि चार-पांच ‘निहंगों’ (परंपरागत हथियार रखने वाले और नीली लंबी कमीज पहनने वाले सिख) का एक समूह एक गाड़ी में यात्रा कर रहा था और मंडी बोर्ड के अधिकारियों ने सुबह करीब सवा छह बजे एक सब्जी बाजार के पास उन्हें रुकने के लिये कहा. पटियाला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनदीप सिंह सिद्धू ने कहा, ‘उनसे (कर्फ्यू) पास दिखाने को कहा गया, लेकिन उन्होंने अपनी गाड़ी से दरवाजे और वहां लगाए गए अवरोधकों पर टक्कर मार दी।’


तलवार से काटा हाथः उन्होंने कहा, ‘तलवार से एक सहायक उप निरीक्षक (एएसआई) का हाथ काट डाला गया, पटियाला सदर थाने के प्रभारी की कोहनी में चोट आई है जबकि एक अन्य पुलिस अधिकारी की बांह में भी इस हमले में चोट आई है’।  एएसआई को राजेंद्र अस्पताल ले जाया गया जहां से उसे पीजीआईएमईआर चंडीगढ़ के लिये रेफर कर दिया गया. एसएसपी ने कहा कि हमले के बाद निहंग मौके से फरार हो गए, उनकी गिरफ्तारी के लिये प्रयास किये जा रहे हैं. यह वारदात तब हुई जब कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर राज्य में पाबंदियां लागू हैं. पंजाब में पिछले 24 घंटों में कर्फ्यू और लॉकडाउन के नियमों की पालना करवा रही।


झारखंडः दो की मौत ,17 संक्रमित

रांची। कोरोना वायरस के संक्रमण से खुद को काफी दिनों तक बचाकर रखने वाले झारखंड में अब मामलों में बढ़ोत्तरी होती जा रही है। रांची के राजेन्द्र आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कोरोना वायरस से संक्रमित 65 वर्षीय बुजुर्ग की रविवार तड़के मौत हो गई। इसके साथ ही झारखंड में कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते जान गंवाने वालों की संख्या 2 हो गई है। राज्य में 15 अन्य लोग कोविड-19 से संक्रमित हैं।


रांची के सभी मरीज जमात के कार्यक्रम से जुड़ेः रिम्स के निदेशक डॉक्टर डी के सिंह ने बताया कि रिम्स में भर्ती किडनी की मरीज एवं कोरोना वायरस से संक्रमित 54 वर्षीय महिला के 8 अप्रैल को भर्ती हुए 65 वर्षीय पति की रविवार तड़के मौत हो गई। उन्हें अपने अन्य परिजनों के साथ संक्रमित पाए जाने के बाद 8 अप्रैल को रिम्स में भर्ती किया गया था। रांची में अब तक कुल 8 संक्रमित मरीज पाए गए हैं और सभी का निजामुद्दीन में हुए तबलीगी जमात के कार्यक्रम से संपर्क रहा है।


8 अप्रैल को हुई थी सूबे की पहली मौतः राज्य में इस संक्रमण से अब तक कुल 2 लोगों की मौत हो गई है। इससे पूर्व 72 वर्षीय बुजुर्ग की मौत बोकारो में 8 अप्रैल को हो गयी थी। वह बोकारो के गोमिया प्रखंड के साड़म गांव का रहने वाला था। इस बुजुर्ग को भी तबलीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लेकर लौटे व्यक्ति से ही संक्रमण हुआ था। राज्य में संक्रमण से मारे गए 2 लोगों के अलावा अब तक कुल 15 लोग संक्रमित पाए गए हैं। इस प्रकार राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या 17 है।


गुजरातः 23 की मौत, 493 संक्रमित

गुजरात। गुजरात स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, गुजरात में कोरोना वायरस के 25 और मामले सामने आए हैं । अहमदाबाद में 75 वर्षीय एक बुजुर्ग की कोरोना वायरस संक्रमण के कारण हुई मौत के बाद प्रदेश में इस महामारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 23 हो गई है। हालांकि, राज्य में 44 लोग ठीक भी हो चुके हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने रविवार को बताया कि राज्य में संक्रमण के 25 नए मामले सामने आए हैं और इन्हें मिलाकर राज्य में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 493 हो गई है। राज्य की प्रमुख सचिव जयंती रवि ने कहा कि व्यक्ति की मौत शनिवार देर रात यहां एलजी अस्पताल में हुई। उन्होंने कहा कि वह हाइपरटेंशन से पीड़ित था। इसके साथ ही अहमदाबाद में कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 11 हो गयी है। रवि ने बताया कि राज्य में सामने आए 25 नए मामलों में से 23 अहमदाबाद से मिले हैं जबकि दो आणंद जिले से हैं। उन्होंने बताया कि 426 मरीजों में से 422 की हालत स्थिर है जबकि चार की हालत गंभीर है। उन्होंने बताया कि अब तक 44 मरीजों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है।


ब्रिटिश एयरवेज लॉकडाउन के चलते गुजरात में फंसे 900 ब्रिटिश नागरिकों को वापस ले कर जाएगा। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए ओडिशा, पंजाब, महाराष्ट्र और तेलंगाना समेत कई राज्यों ने लॉकडाउन को 30 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। हालांकि पूरे देश में लॉकडाउन 14 अप्रैल तक लागू किया गया है और लॉकडाउन को लेकर पीएम मोदी के संबोधन का इंतजार किया जा रहा है। माना जा रहा है कि वैश्विक कोरोना महामारी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कभी भी लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा कर सकते हैं।
किस जिले में कितने कोरोना पॉजिटिव केसः गुजरात में कोरोना संक्रमित मामलों की जिलेवार संख्या इस प्रकार है। अहमदाबाद में 266, वडोदरा में 95, सूरत में 28, भावनगर में 23, राजकोट में 18, गांधीनगर में 15, पाटन में 14, भरुच में आठ, आणंद में 7, कच्छ में 4, पोरबंदर और छोटा उदयपुर में तीन-तीन, गिर सोमनाथ और मेहसाणा में दो-दो एवं पंचमहल, जामनगर, मोर्बी, साबरकांठा और दाहोद में एक-एक।


एलओसी पर पाक की जबर्दस्त फायरिंग

नीरज जिंदल


जम्मू कश्मीर। कोरोना वायरस के संकट के बावजूद पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। जम्मू-कश्मीर के पुंछ और कठुआ जिलों में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास पाकिस्तानी सेना ने रात भर गोलाबारी और छोटे हथियारों से गोलीबारी की, जिसमें 45 वर्षीय एक महिला घायल हो गई। अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि शनिवार देर रात पुंछ जिले के बालाकोट सेक्टर में लांजौत गांव की निवासी सलीमा बीवी घायल हो गई, जब उसके घर के पास मोर्टार का एक गोला फट गया। उन्होंने बताया कि भारी गोलाबारी के बीच सेना, पुलिस कर्मियों और स्वास्थ्य कर्मियों के एक संयुक्त दल ने महिला को बचाया और उसे अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसकी हालत स्थिर बताई गई है।
अधिकारियों ने कहा कि बालाकोट के साथ मेंढर में शनिवार रात कई घंटों तक पाकिस्तान की तरफ से संघर्ष विराम का उल्लंघन किया गया जिससे सेना को जवाबी कार्रवाई करनी पड़ी। उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी गोलाबारी में कई घर क्षतिग्रस्त हो गए। अधिकारियों ने बताया कि जम्मू क्षेत्र के कठुआ जिले में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास हीरानगर सेक्टर में रात भर पाकिस्तानी रेंजर्स और सीमा सुरक्षा बल के बीच भारी गोलीबारी हुई।


पीएम राहत कोष में बुजुर्ग ने 1लाख दिया

एसके विरमानी


हरिद्वार।12 अप्रैल 2020 को प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी की अपील पर भारत सरकार को सहयोग करते हुए हदीबपुर रायसी निवासी वरिष्ठ बीजेपी कार्यकर्ता 70 वर्षीय ऋषिपाल सिंह ने आज जिलाधिकारी सी रविशंकर को एक लाख रुपये धनराशि का चैक प्रधानमंत्री राहत कोष के लिए दिया। अधिक आयु व स्वास्थ्य कारणों के चलते वह स्वयं रोशनाबाद नहीं आ सके। उन्होंने यह चैक बीजेपी जिलाध्यक्ष जयपाल सिंह चौहान तथा विधायक सुरेश राठौर के माध्यम से प्रेषित किया। आपको बता दें जिलाधिकारी ने इस आयु में भी राष्ट्र सेवा की भावना से प्रेरित ऋषिपाल को धन्यवाद दिया और आभार जताया।


21जमातियों के पासपोर्ट जब्त, भेजा जेल

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का कहर बढ़ता ही जा रहा है। वहीँ दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तब्लीगी जमात में थाईलैंड व इंडोनेशिया के 21 जमाती शामिल होकर बहराइच आए थे। मस्जिद व घरों में छिपे जमातियों को पुलिस ने ढूंढ निकाला था। इन पर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर पासपोर्ट जब्त कर लिया गया था। एहतियात के तौर पर सभी जमातियों को महिला अस्पताल के क्वारंटाइन शेल्टर में रखा गया था। शनिवार को जांच रिपोर्ट निगेटिव आने पर इन्हें जेल रवाना कर दिया गया।


बताते चलें कि दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तब्लीगी जमात में इंडोनेशिया के 14 व थाइलैंड के सात जमाती शामिल हुए थे। वहां से ये लोग बहराइच आए थे। पुलिस के बार-बार अपील के बाद भी ये लोग बाहर नहीं आए। इसके बाद पुलिस ने अभियान चलाकर सभी जमातियों को शहर के मरकज व घरों से ढूंढ निकाला था। इन पर पहचान छिपाने, जानबूझ कर संक्रमण फैलाने, महामारी अधिनियम समेत गंभीर धाराओं में पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। 28 मार्च से सभी जमाती क्वारंटाइन किए गए थे। सीएमएस डॉ.डीके सिंह ने बताया कि जांच रिपोर्ट निगेटिव आने की सूचना पुलिस को दी गई। इसके बाद कोतवाली पुलिस ने सभी जमातियों को सीधे जेल रवाना कर दिया। कोतवाल नगर आरपी यादव ने बताया कि पहचान छिपाने पर मुकदमा दर्ज किया गया था। इसी मामले में उन्हें जेल भेजा गया है। विदेशी तब्लीगी जमातियों पर पुलिस ने महामारी, आपदा प्रबंधन, विदेशी विषयक अधिनियम व 188, 269 आइपीसी के तहत मुकदमा दर्ज किया था। पुलिस की निगरानी में सभी जमातियों को क्वारंटाइन शेल्टर में रखा गया था।


मास्क और सैनिटाइजर वितरण किया

 समाज सेवी राजेश सिंह तेदुन द्वारा वितरित किया मास्क और सेनेटाइजर ।

बैकुन्ठपुर। समीपी गाव तेदुन निवासी काग्रेस के नेता एवं संविदाकार राजेश सिंह ने लोगो को कोरोना वायरस जैसी महामारी के बचाव के लिए गांव मे जाकर लोगो को घर - घर  मास्क और सेनेटाइजर का वितरण किया। समाज सेवी राजेश सिंह लोगो  को जागरुक करते हुये लाक डाउन और सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने को प्रेरित किया। लोगो को यह भी अवगत कराया कि आप सभी लोग घर मे रहे बाहर ना निकले, बे वजह इधर उधर ना घूमे जब भी घर से बाहर निकले तो मास्क लगाकर निकले जादा से जादा गर्म पानी का सेवन करे घर मे रहकर भी साबुन से हाथ धोये घर के मेन दरवाजे को जरुर सेनेटाइज करे लोगो से दूरी बना कर रखे।यदि गांव मे कोई बाहर का व्यक्ति दिखे तो गाव के सरपंच या सेकेटरी अथवा नजदीकी थाना को उक्त व्यक्ति के बारे मे सूचित करे । उन्होने कहा कि हमारी सावधानी ही सबसे बडा उपाय है कोरोना जैसे महामारी से बचने के लिए समाज सेवी राजेश सिंह ने अंत मे कहा कि जान है तो जहान है साथ ही उन्होने लोगो से यह  भी कहा कि गांव मे कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे अगर ऐसी जानकारी मिलती है तो उन्हे सूचित करे ।


आखिर कब रूकेगा पत्रकारों का उत्पीड़न

जिला चिकित्सालय में चिकित्सक ने की पत्रकार से अभद्रता


रिपोर्ट-संजय सिंह राणा


चित्रकूट। कोरोनावायरस को लेकर जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पूरे देश को लॉक डाउन किया गया है व लोगों को घरों में रहने की सलाह दी गई है जिससे कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सके l
प्रधानमंत्री के आवाहन पर पूरा देश अपने घरों में रहकर लॉक डाउन का पालन कर रहा है lवहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री द्वारा किए गए लॉक डाउन पर कवरेज हेतु पत्रकारों को जगह-जगह जाकर लोगों की समस्या व सरकार की निर्देशों को बताने का कार्य किया जा रहा है जिसके लिए पत्रकार शहर कस्बों से लेकर ग्रामीण अंचलों तक निस्वार्थ भावना से कवरेज करते हुए नजर आते हैं लेकिन आज उन्हीं पत्रकार साथियों को जिम्मेदार अधिकारियों व कर्मचारियों की अभद्रता का सामना करना पड़ रहा है जो बहुत ही निंदनीय है l
सरकार द्वारा पत्रकारों की सुरक्षा हेतु कड़े इंतजाम किए जाने के दावे किए जा रहे हैं लेकिन वही दावे जमीनी हकीकत पर से कोसों दूर नजर आ रहे हैं जहां पर पत्रकारों के साथ बदसलूकी व अभद्रता के मामले अक्सर सामने आते रहते हैं जिसमें पत्रकारों को कहीं पुलिस प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों व कर्मचारियों द्वारा तो कहीं जिला प्रशासन के अधिकारियों व कर्मचारियों की अभद्रता का सामना करना पड़ रहा है l अभी एक मामला सामने आया है जहां पर जिला चिकित्सालय में तैनात चिकित्सक द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकार से अभद्रता की गई है l


मामला है चित्रकूट जिला चिकित्सालय में तैनात चिकित्सक डॉ मोहित गुप्ता द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकार शंकर प्रसाद यादव से की गई अभद्रता का।


चिकित्सकों को शासन प्रशासन द्वारा सख्त निर्देश दिए गए हैं कि समय से चिकित्सालय पहुंचकर आम जनता का इलाज करें व सरकारी निर्देशों का सख्ती से पालन करें लेकिन चित्रकूट जिला चिकित्सालय में डॉक्टरों की मनमानी खूब देखने को मिल रही है जहां पर चिकित्सक अपनी हठधर्मिता के चलते समय से चिकित्सालय नहीं पहुंचते हैं व समय से पहले ही चिकित्सालय से निकल लेते हैं l
सबसे बड़ी बात यह है कि जब कोई गरीब पीड़ित मरीज इन चिकित्सकों से इलाज की बात करता है तो यह चिकित्सक भड़क जाते हैं व इन गरीब असहाय मरीजों के साथ ऐसा व्यवहार करते हैं जैसे इनका इलाज करके यह कोई एहसान कर रहे हैं l
ज्यादातर चिकित्सक अपने चेंबर से गायब रहते हैं व इधर-उधर घूमते नजर आते हैं जिसके कारण गरीब पीड़ित मरीज इलाज के लिए चेंबर के चक्कर काटते हुए नजर आते हैं l
ऐसा ही एक मामला देखने को मिला है जिसमें चिकित्सक द्वारा एक गरीब मरीज के इलाज में घोर लापरवाही बरती जा रही है l
बताते चलें कि शनिवार को मानिकपुर विकासखंड के ग्राम पंचायत मारकुंडी का रहने वाला सुनील कुमार पैर में सड़न होने के कारण जिला चिकित्सालय में भर्ती हुआ है जिसका इलाज डॉक्टर मोहित गुप्ता द्वारा किया जा रहा है जिसके इलाज में डॉक्टर द्वारा घोर लापरवाही बरती जा रही है l 
डॉक्टर मोहित गुप्ता द्वारा समय से चिकित्सालय ना आना व सही तरीके से मरीजों का इलाज ना करना चर्चा का विषय बना हुआ है स्थानीय डॉक्टर होने के चलते डॉक्टर मोहित गुप्ता की दबंगई खूब देखने को मिलती है जहां पर मरीजों के साथ चिकित्सक अपनी तानाशाही करते हुए नजर आते हैं चिकित्सक की तानाशाही इस कदर हावी है कि अपने सीनियर डॉक्टरों से भी उलझने में कोताही नहीं बरतते हैं l
समाचार कवरेज के दौरान जिला चिकित्सालय पहुंचे दैनिक आज समाचार पत्र के ब्यूरो चीफ व शासन द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकार शंकर प्रसाद यादव जब पीड़ित मजदूर से मिले व पीड़ित ने अपनी सारी बात पत्रकार को बताई जिसको लेकर पत्रकार ने चिकित्सक से बात करनी चाही तो दबंग डॉक्टर मोहित गुप्ता पत्रकार शंकर यादव पर भड़क गए व अभद्रता करते हुए देख लेने की बात की जिसकी शिकायत पीड़ित पत्रकार ने फोन के माध्यम से व कैंप कार्यालय में शिकायती पत्र देकर जिलाधिकारी को अवगत कराया व मुख्य चिकित्साधिकारी को शिकायती पत्र देकर अवगत कराया l
चिकित्सक की तानाशाही की बात पीड़ित पत्रकार ने सीएमएस को भी दी जिसमें सीएमएस ने डॉक्टर से अभद्रता की बात कही तो दबंग डॉ सीएमएस से ही भड़क गया l
जबकि इसी पीड़ित मरीज के इलाज को लेकर भाजपा नेता व सांसद पुत्र सुनील पटेल ने सीएमएस को फोन करके गरीब मजदूर के इलाज के लिए कहा था l
जिला चिकित्सालय में दबंग डॉक्टर मोहित गुप्ता तानाशाही इस कदर देखने को मिली जिसमें चिकित्सक ने पत्रकार शंकर यादव पर झल्ला कर अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए देख लेने तक की धमकी दे डाली व बोले कि ज्यादा नेतागिरी और पत्रकारिता न करो नहीं तो बहुत बुरा होगा मैं तुम्हें देख लूंगा l
स्थानीय होने के चलते डॉक्टर की मनमानी जिला चिकित्सालय में खूब देखने को मिल रही हैं जहां पर डॉक्टर द्वारा मरीजों के साथ अभद्रता के चर्चे खूब सुनने को मिलते हैं इससे पहले भी कई मरीजों व उनके परिजनों के साथ डॉक्टर द्वारा कई बार अभद्रतापूर्ण व्यवहार किया गया लेकिन कार्यवाही नहीं होने के चलते डॉक्टर अपनी मनमानी करते हुए नजर आता है l
जिला चिकित्सालय में संविदा कर्मी के रूप में तैनात डॉक्टर मोहित गुप्ता की तानाशाही के किस्से खूब सुनने को मिल रहे हैं l जहां पर प्रतिदिन मरीजों व उसके परिजनों को इस दबंग डॉक्टर की अभद्रता का सामना करना पड़ता है l
पीड़ित पत्रकार द्वारा बताया गया कि एक मरीज जो पिछले 1 हफ्ते से जिला चिकित्सालय में भर्ती है व पैर में सड़न हो जाने के कारण इलाज चल रहा है जिसके लिए पत्रकार द्वारा चिकित्सक को इलाज करने के लिए कहा गया जिस पर चिकित्सक मोहित गुप्ता भड़क गए व अभद्रता करने लगे व अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुए देख लेने की धमकी तक दे डाली l अपने साथ हुई घटना की जानकारी पीड़ित पत्रकार ने जिलाधिकारी शेषमणि पाण्डेय व मुख्य चिकित्सा अधिकारी विनोद कुमार यादव व सीएमएस सहित चित्रकूट प्रेस क्लब के अध्यक्ष सत्य प्रकाश द्विवेदी जी को दी जिसमें जिलाधिकारी व मुख्य चिकित्साधिकारी ने मामले की जांच कराते हुए कड़ी कार्यवाही करने की बात कही l
वही प्रेस क्लब अध्यक्ष सत्यप्रकाश द्विवेदी ने पत्रकार के साथ डॉक्टर द्वारा की गई अभद्रता की कड़ी निंदा की व पीड़ित पत्रकार को न्याय दिलाने का आश्वासन दिया गया l
सरकार द्वारा पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर कड़े निर्देश देने के बावजूद भी पत्रकारों का उत्पीड़न जगह जगह पर हो रहा है जिला चिकित्सालय में पत्रकार से बदसलूकी व अभद्रता करने वाले डॉक्टर पर कब कार्यवाही होगी यह एक बड़ा सवाल है।
सबसे बड़ी सोचने वाली बात यह है कि पत्रकार के साथ अभद्रता करने वाले डॉक्टर मोहित गुप्ता के ऊपर जिला प्रशासन कब कार्यवाही करने का काम करेगा l


बीकानेरः कोरोना के विस्फोट का कहर

बीकानेर । बीकानेर में कोरोना का क़हर बढ़ता जा रहा है । देर रात्रि को कोरोना विस्फोट हुआ , डॉक्टर सहित 8 पॉजीटिव मिले । एकसाथ 8 पॉजीटिव मिलने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कम्प मच गया । वहीं देररात आई रिपोर्ट में आठ और पॉजिटिव आए हैं। इन पॉजिटिव में एक डॉक्टर भी बताया जा रहा है। हालांकि किसी ने इसकी पुष्टि नहीं की। जबकि शनिवार को दिन में आई रिपोर्ट में दो पॉजिटिव मिले थे। इसी के साथ बीकानेर में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 34 हो गया है।अस्पताल सूत्रों के मुताबिक देररात आठ मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई । इनमें आठ मरीजों में दो सिटी कोतवाली, एक गंगाशहर और पांच तेली लुहारों का मोहल्ले के हैं। पॉजिटिव मरीजों में चार बच्चे हैं। अस्पताल प्रशासन ने  देररात मरीजों को पीबीएम के कोरोना आईसीयू डी वार्ड से सुपर स्पेशलियटी सेंटर में शिफ्ट किया गया।
कोरोना वायरस का संक्रमण शहर के ठंठेरा मोहल्ले को जकड़ चुका है। शनिवार दोपहर को आई रिपोर्ट में 10 और मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है। इसी के साथ बीकानेर में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 34हो गया है। एक महिला की मौत हो चुकी है। हैरत की बात है कि अब तक बीकानेर में मिले पॉजिटिव मरीजों में 30 ठंठेरा मोहल्ले के हैं और तीन रानीबास और एक गंगाशहर में चिन्हित हुआ हैं। सभी २९ मरीज मृतक महिला के रिश्तेदार हैं।बता दें कि बीकानेर में अब तक पॉजीटिव मरीज़ों का आँकड़ा 34 पहुँच गया है , जिसमें से 1 महिला की मौत हो चुकी है ।


धोनी का कभी कर्ज नहीं चुका सकता

नई दिल्ली। पूर्व भारतीय कप्तान और महान विकेट कीपर महेंद्र सिंह धोनी ने कई देशी और विदेशी खिलाड़ियों का करियर सवारा है। इसमें पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी शेन वाॅटसन का नाम भी शामिल है जो धोनी की आईपीएल टीम चेन्नई सुपरकिंग्स (सीएसके) की तरफ से खेलते हैं। वाॅटसन ने कहा कि वह धोनी और चेन्नई के कोच स्टीफन फ्लेमिंग का कर्ज कभी नहीं चुका सकते। वॉटसन ने सीएसके के इंस्टाग्राम पेज पर लाइव होकर कहा कि खिलाड़ियों की क्षमता पर विश्वास करना ही चेन्नई सुपर किंग्स टीम की सफलता का राज है। वॉटसन ने बातचीत के दौरान धोनी और चेन्नई के कोच स्टीफन फ्लेमिंग को शुक्रिया कहते हुए कहा कि अगर आप 10 मैचों में रन नहीं बनाते हैं और उसके बावजूद कप्तान और कोच आपके ऊपर भरोसा जताते हैं तो वो बड़ी बात है। उन्होंने कहा कि अगर कोई दूसरी टीम होती तो टीम से बाहर कर दिया होता लेकिन चेन्नई ने मुझे टीम में बरकरार रखा। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने कहा कि आईपीएल सीजन 2019 में वह अच्छी बल्लेबाजी के बावजूद बड़ा स्कोर नहीं बना पा रहे थे। कई मैचों में असफल होने के बाद लगा कि टीम से बाहर कर दिया जाएगा लेकिन धोनी ने उन्हें टीम में बरकरार रखा। उन्होंने कहा कि धोनी के विश्वास ने सब कुछ बदलकर रख दिया। उनकी लीडरशिप में बहुत ताकत है। उन्हें पता है कि किस खिलाड़ी के साथ कब रहना है, कब उसे कप्तान की सबसे ज्यादा जरूरत है। वॉटसन ने कहा कि ये उनके लिए हैरानी भरा है और वह धोनी और फ्लेमिंग के हमेशा ऋणी रहेंगे।


5 बच्चों संग नदी में कूदी, 5 की मौत

भदोही। पति से हुए मामूली झगड़े के बाद यूपी के भदोही जिले में एक महिला अपने पांच बच्चों को लेकर गंगा में कूद गई। कुछ देर बाद मां तो तैर कर नदी से बाहर निकल आई लेकिन पांच से 11 साल के पांचों बच्चे नदी में ही डूब गए। बच्चों के शवों की तलाश का काम जारी है। डूबने वाले बच्चों में दो लड़के और तीन लड़कियां हैं। इनमें सबसे बड़ी लड़की की उम्र 11 साल है और सबसे छोटे लड़के की उम्र तीन साल है।
मिल रही जानकारी के अनुसार भदोही में गंगा घाट पर रविवार सुबह एक महिला ने परिवार समेत आत्महत्या की नीयत से पांच बच्चों को लेकर गंगा में छलांग लगा दी। इसके कुछ देर बाद महिला तो तैर की बाहर आ गई लेकिन पांचों बच्चे नदी में बह गए। बाहर निकली महिला को ग्रामीणों ने घेर लिया और उससे पूछताछ की। उसने कहा कि मैंने जानबूझकर ही बच्चों को डुबाया है।
जानकारी के मुताबिक गोपीगंज थानाक्षेत्र के जहांगीराबाद गांव निवासी मृदुल यादव उर्फ मुन्ना की 37 वर्षीय बीवी मंजू यादव आज तड़के अपने पांच बच्चों आरती(11), सरस्वती(7), शिव शंकर(6), मातेश्वरी(5) और तीन वर्षीय केशव प्रसाद के साथ जहांगीराबाद घाट पहुंची। इसके बाद उसने सभी बच्चों के साथ गंगा में छलांग लगा दी।
कुछ देर में वह तैर कर नदी से बाहर आ गई। और घाट के किनारे की बैठ गई। सुबह जब ग्रामीणों की निगाह पड़ी तो पूछे जाने पर उसने बताया कि मैंने अपने पांचों बच्चों को गंगा में डुबो दिया। बच्चों के पिता मृदुल यादव का कहना है कि वह बीती रात किसी रिश्तेदार को लेकर झारखंड गया था। सूचना मिलने के बाद जैसे तैसे वह मौके पर पहुंचा।
उसने बताया कि पत्नी को कोई बीमारी भी नहीं है। वह दिमागी रूप से भी बिल्कुल ठीक है। वहीं बच्चों की मां ने आरोप लगाया कि पति से किसी बात को लेकर लड़ाई झगड़ा हुआ था, जिसके बाद उसने यह कदम उठाया।


पोर्न देखने में नंबर वन बना 'इंडिया'

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के खिलाफ जंग की सबसे सशक्त रणनीति में सोशल डिस्टेंसिंग और लॉक डॉउन है। प्रधानमंत्री की अपील का देश की अधिकांश जनता ने अनुसरण किया और तमाम लोग आज अपने—अपने घरों में हैं। ऐसे में कई माध्यमों से देखा जा रहा है कि आंखिर जनता घर में दिन भर क्या कर रही है। कोई बागवानी कर रहा है, कोई संगीत का रियाज कर रहा है, कोई घर से ही दफ्तर के काम निपटा रहा है, लेकिन इससे इतर भी कुछ है जो भारतीय सबसे अधिक कर रहे हैं। चौंकिये मत, पूरे विश्व में भारतीय सबसे अधिक इंटरनेट पर पॉर्न देखकर अपना वक्त बिता रहे हैं। यह हम नही कह रहे, बल्कि दुनिया की सबसे बड़ी पॉर्न वेबसाइट पॉर्न हब के आंकड़े इस बात की तस्दीक कर रहे हैं। वैसे तो पूरी दुनिया में पॉर्न देखने वालों की संख्या बढ़ी है, लेकिन भारत इस मामले में पहले नंबर पर पहुंच गया है। पॉर्न हब के ताजा आंकड़ों के मुताबिक तीन हफ्ते के लॉकडाउन की अवधि में ही भारत में एडल्ट साइट्स पर जाने वालों का ट्रैफिक 95 फीसदी बढ़ा है। आंकड़ों के मुताबिक भारत में मार्च के आखिर में आधिकारिक पाबंदियों के शुरू होने से पहले ही पॉर्न कंटेंट देखने में 20 फीसदी का उछाल आ गया थाा। बता दें कि भारत सबसे तेजी से उभरने वाला स्मार्टफोन मार्केट है जिससे लोगों तक पॉर्न कंटेंट पहुंचना आसान हो गया है। खैर अभी तो बहुत से राज्यों ने लॉक डॉउन की अवधि बढ़ा दी है। देखना यह है कि भारतीय लोग आगे लॉक डॉउन के दौरान कुछ सार्थक कार्य करते हैं या फिर पॉर्न साइट पर चिपके रहकर अपना वक्त जाया करेंगे।


 


यूपी में पांचवी मौत, 425 संक्रमित

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण के चलते पांचवीं मौत देखने को मिली है, जबकि 19 नए मामलों के साथ सूबे में महामारी से संक्रमित कुल व्यक्तियों की संख्या बढ़कर 425 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा यहां जारी आंकड़ों के अनुसार, बुलंदशहर के एक आयुर्वेद चिकित्सक ने शनिवार रात दिल्ली के एक अस्पताल में दम तोड़ा।बुलंदशह के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर के.एन.तिवारी ने कहा, “मरने वाले 58 वर्षीय बुलंदशहर में एक निजी आयुर्वेद चिकित्सक थे और उन्हें नई दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनके परिवार के सदस्यों के नमूने भी जांच के लिए भेजे गए हैं।”आयुर्वेदिक चिकित्सक को 7 अप्रैल को शुरुआत में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, बाद में उन्हें दिल्ली स्थानांतरित कर दिया गया था। संक्रमण की पुष्टि होने के बाद उनके क्लिनिक को भी सील कर दिया गया। दूसरी ओर शनिवार को समने आए नए 19 मामलों में से आठ तबलीगी जमात के सदस्यों से जुड़े हैं।


अतरिक्त मुख्य सचिव (गृह) अवनीश अवस्थी ने कहा, “कोरोनावायरस से संक्रमित हुए तबलीगी जमात के सदस्यों की संख्या बढ़कर 254 हो गई है।” स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इस बीच उपचार के बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ हुए 13 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। यह राज्य में एक दिन में ठीक होकर डिस्चार्ज किए जाने वाले सबसे अधिक मरीजों की संख्या है। स्वास्थ्य विभाग ने राज्य में लक्षण संदिग्ध 5,477 की पहचान की है और 576 को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि अन्य 8,084 लोगों को क्वारंटाइन सेंटर भेजा गया है।


बकाया किस्तों पर ब्याज देना होगा

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के चलते मॉरीटोरियम अवधि के दौरान लोन की किश्त की अदायगी में ब्याज की छूट दिए जाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गई है। याचिका में कहा गया है कि बैंक और वित्तीय संस्थान अपने कर्ज में ग्राहकों से मॉरीटोरियम अवधि के दौरान ब्याज न लें। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने अपने मार्च के सर्कुलर में इसकी घोषणा की है, लेकिन अभी तक यह एक घोषणा ही है क्योंकि मॉरीटोरियम अवधि में ब्याज देय है।


याचिकाकर्ता ने तर्क दिया है कि नियमित किश्त के साथ अतिरिक्त ब्याज का भुगतान करने का कोई अर्थ नहीं है। इसलिए राज्य का कर्तव्य है कि संकट के इस समय में उधारकर्ताओं को छूट दी जाए। जब लोगों की नौकरियों पर संकट हो और उनसे आय छीन ली गई हो तो ऐसे में उपभोक्ताओं को छूट दी जानी चाहिए। बताते चलें कि कोरोनावायरस और उसके आर्थिक प्रभावों से निपटने के लिए सरकार के बाद RBI ने बड़ा कदम उठाया है। आरबीआई ने नीतिगत ब्याज दर यानी रेपो रेट में 0.75 प्रतिशत की कटौती की। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास (Shakti Kant Das) ने कहा था कि रेपो दर को मौजूदा समय में 5.15 प्रतिशत से घटाकर 4.4 प्रतिशत किया गया है। मौद्रिक नीति समिति (MPC) के 6 सदस्यों में से चार ने इस कदम के पक्ष में वोट किया है। इससे होम लोन समेत अन्य कर्जों की ईएमआई में कमी आने की उम्मीद है। आर्थिक नरमी को दूर करने के लिए आरबीआई इससे पहले भी कई बार नीतिगत ब्याज दर में कटौती कर चुका है। साथ ही बैंकों को दरों में पर्याप्त कटौती करने का भी निर्देश दिया था।


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...