गुरुवार, 25 जुलाई 2019

स्मार्ट सिटी पर कार्रवाई आगे बढ़ी


स्मार्ट सिटी के कामों में ढिलाई पर संसद में चिंता जताई तो अजमेर में अफसरों ने कहा-तेजी से हो रहा है काम।  12 करोड़ रुपए तो कंसलटेंसी के देंगे।

 अजमेर ! अजमेर के सांसद भागीरथ चौधरी ने संसद में स्मार्ट सिटी के कार्यों में ढिलाई और लापरवाही बरतने को लेकर केन्द्र सरकार का ध्यान आकर्षित किया तो दोहपर को ही जिला कलेक्टर विश्वमोहन शर्मा और नगर निगम की आयुक्त सुश्री चिन्मयी गोपाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अब स्मार्ट सिटी के काम तेजी से हो रहे हैं। असल में स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट का सारा पैसा भारत सरकार दे रही है, इसलिए सांसद ने केन्द्र सरकार का ध्यान आकर्षित किया था। इस समय में राज्य में कांग्रेस की सरकार है, इसलिए स्मार्ट सिटी के कामों में संबंधित अधिकारी रुचि नहीं दिखा रहे हैं। अधिकारियों ने पूर्व में स्वीकृत कामों में बदलाव भी कर दिया है।  यानि अब स्मार्ट सिटी में वो ही काम होंगे, जिन्हें कांग्रेस सरकार चाहेगी। ऐसा नहीं कि इन कामों में कांग्रेस सरकार में ही ढिलाई हुई है, भाजपा सरकार के समय भी स्मार्ट सिटी के कामों ने गति नहीं पकड़ी। जिन कामों के टेंडर तक जारी हो गए उन्हें भी शुरू नहीं किया जा सका। ऐलिवेटेड रोड को 31 मार्च 2020 तक बन जाना चाहिए था, लेकिन अभी शुरुआती दौर में ही है। अब दो वर्ष और लगेंगे या तीन वर्ष कहा नहीं जा सकता। राजनीतिक दलों के नेता यही दावा करते हैं कि विकास में राजनीति नहीं होती, लेकिन स्मार्ट सिटी के कामों को लेकर खुलेआम राजनीति हो रही है। प्रशासन के अधिकारी वो ही काम करते हैं जो कांग्रेस के नेता कहते हैं। 
कंसलटेंसी के 12 करोड़ रुपए:
स्मार्ट सिटी के काम कैसे होंगे, इस कार्य का भी ठेका दिया गया है। संबंधित विदेशी फर्म को अगले दो वर्ष में 12 करोड़ 40 लाख रुपए का भुगतान किया जाएगा। प्रशासन ने स्मार्ट सिटी के 65 कार्य चिह्नित किए हैं। इन पर 1039 करोड़ रुपए खर्च होने हैं। एजिस इंडिया कंसलटेंसी इंजीनियर्स प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ही बताएगी कि कार्य कैसे होंगे। हालांकि प्रशासन के पास इंजीनियरों की फौज है, लेकिन सरकारी इंजीनियर्स इतने काबिल नहीं कि स्मार्ट सिटी के काम करवा सकें। यदि स्मार्ट सिटी के कामों में कौताही बरती गई तो केन्द्र सरकार भी धनराशि देने में कटौती कर सकती है।
एस.पी.मित्तल


कुरान में भी तीन तलाक का उल्लेख नहीं


कुरान शरीफ में भी एक साथ तीन तलाक का उल्लेख नहीं। 
बीस मुस्लिम देशों में प्रतिबंध तो फिर भारत में विरोध क्यों?
तीन संशोधन के साथ लोकसभा में बिल पेश।



 नई दिल्ली ! तीन बड़े संशोधन के साथ तीन तलाक का बिल लोकसभा में पेश कर दिया है। लेकिन इसके साथ ही कांग्रेस, सपा, बसपा, टीएमसी, जेडीयू आदि ने इस बिल का विरोध किया है। केन्द्रीय विधि एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बिल को प्रस्तुत करते हुए कहा कि यह बिल सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुरूप प्रस्तुत किया जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट ने भी माना कि एक साथ तीन तलाक कहना मुस्लिम धर्म की भावनाओं के विपरीत है। इसलिए बीस मुस्लिम देशों में तीन तलाक  को प्रतिबंध किया गया है। मंत्री ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद देश में 575 घरेलू हिंसा के मामले सामने आए इनमें से 345 तीन तलाक के मामले हैं। इससे साफ जाहिर है कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद भी तीन तलाक की घटनाएं नहीं रुक रही हैं। मुस्लिम समाज में छोटी छोटी बातों पर पत्नी को एक साथ तीन तलाक कह कर छोड़ा जा रहा है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या सुप्रीम कोर्ट का आदेश घर में टांगने के लिए है। हमने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुरूप ही बिल तैयार किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व में प्रस्तुत बिल पर तीन प्रमुख आपत्ति जताई गई थी। इस नए बिल में तीनों आपत्तियों का समाधान कर दिया गया है। अब पुलिस में रिपोर्ट पीडि़ता स्वयं दर्ज कराए या फिर उसके परिवार का कोई सदस्य। इसी प्रकार पीडि़ता को सुनने के बाद अदालत पति को जमानत दे सकती है। इस बिल में समझौते की गुंजाइश भी रखी गई है। उन्होंने कहा कि इस बिल को राजनीति और धर्म के चश्में से नहीं देखा जाना चाहिए बल्कि यह बिल नारी की गरिमा और सम्मान जुड़ा हुआ है। बिल के प्रस्तुत होने के साथ ही कांग्रेस और विपक्षी दलों ने विरोध करना शुरू कर दिया है। बिल को मुस्लिम धर्म में हस्तक्षेप माना जा रहा है। जबकि जानकारों का कहना है कि कुरान शरीफ में भी एक साथ तीन तलाक कहकर पत्नी को छोडऩे का कोई उल्लेख नहीं है। कुरान में तलाक की जो प्रक्रिया बता रखी है उसमें तीन माह में तीन बार तलाक कहने पर ही पत्नी को छोड़ा जा सकता है। एक माह में एक बार तलाक कहना होगा। यह प्रक्रिया इसलिए निर्धारित की है यदि कोई शौहर गुस्से में एक बार तलाक कह दे तो उसे दूसरे माह अपनी गलती सुधारने का अवसर भी मिलता है। तीसरे माह में समझौते की गुंजाइश भी बनी रहती है, लेकिन अब एक साथ तीन तलाक कहकर पत्नी को छोडऩे के मामले उजागर हो रहे हैं। उत्तर प्रदेश में तो वाट्सएप और पोस्टकार्ड पर तीन बार तलाक लिखकर पत्नी को छोड़ा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि एनडीए के पहले कार्यकाल में लोकसभा से तीन तलाक का बिल पास हो चुका था, लेकिन राज्यसभा में बहुमत नहीं होने की वजह से यह बिल राज्यसभा में पास नहीं हो सका। इसलिए बिल कानून नहीं बन सका। लेकिन अब भाजपा और उसके सहयोगी दलों को उम्मीद है कि राज्यसभा से भी बिल पास हो जाएगा। हालांकि भाजपा की गठबंधन सरकार को समर्थन देने वाले जेडयू ने बिल का विरोध किया है।
एस.पी.मित्तल


नगर-निगम के एक बड़े घोटाले का खुलासा

 फाइलों में काम कर रहे थे निगम के 104 माली,वेतन दिया 75 लाख



गाजियाबाद। नगर निगम में मालियों की तैनाती में बड़ा घोटाला सामने आया है। निगम के उद्यान विभाग में 104 माली बीते आठ माह से सिर्फ फाइलों में काम कर रहे हैं। न इन मालियों ने कभी निगम के पार्क देखे और न ही स्थानीय लोगों ने इन मालियों को देखा, बावजूद इसके नगर निगम ने इन्हें 75 लाख का भुगतान कर दिया। फर्जीवाड़ा करके हर माह प्रत्येक माली के नाम पर 9430 रुपये का भुगतान किया गया है। महापौर आशा शर्मा ने इस मामले में लिखित में जवाब मांगा तो अधिकारी उन्हें भी गोलमोल जवाब देकर घोटाले पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे हैं।
नगर निगम ने नवंबर 2018 में शहर के पार्कों की मेंटेनेंस के लिए 104 मालियों की तैनाती आउटसोर्सिंग पर की थी। इन मालियों को पांचों जोन में भेजा जाना था। लेकिन यह तैनाती सिर्फ कागजों में हुई। नगर निगम के वरिष्ठ अधिकारियों ने यह भी जानने का प्रयास नहीं किया कि जिन मालियों को तैनाती दी गई है, वह काम पर पहुंचे भी है या नहीं। निगम सूत्रों की मानें तो निगम के उद्यान विभाग में तैनात कुछ कर्मचारियों ने आपस में मिलीभगत कर यह घोटाला कर लिया। हर महीने इन कर्मचारियों के नाम पर 9.80 लाख रुपये इनके वेतन के नाम पर हड़प लिए गए। इस रकम की बंदरबांट नीचे से ऊपर तक होता था। महापौर आशा शर्मा ने मामला पकड़ा तो अधिकारियों से जवाब तलब किया। अब नगर निगम में हड़कंप मचा हुआ है।
ऐसे किया गया घोटाला
निगम सूत्रों के मुताबिक उद्यान विभाग में तैनात कुछ कर्मचारियों ने नए 104 कर्मचारियों की तैनाती के नाम पर अपने कुछ परिचितों का डाटा निगम में दे दिया। इनके खाते नंबर भी निगम में दिए गए। नगर निगम ने वेतन का भुगतान भी उनके खातों में आरटीजीएस के माध्यम से किया। यानी अगर जांच हुई तो पूरे घोटाले की परतें खुल जाएंगी।
ऐसे खुला घोटाला
पूर्व में नगर निगम में आउटसोर्सिंग पर कर्मचारियों की तैनाती निजी फर्मों द्वारा की जाती थी। यह फर्म संचालक निगम अधिकारियों और कर्मचारियों से सांठगांठ कर लेते थे। अब शासन ने शहरी आजीविका मिशन के तहत एक संस्था को नामित कर दिया है। पूर्व में आउटसोर्सिंग पर तैनात कर्मचारियों का पंजीकरण अब इस संस्था के अंतर्गत किया जा रहा है। संस्था ने तैनात कर्मचारियों का क्रॉस वेरिफिकेशन किया तो 104 कर्मचारी गायब मिले। इससे घोटाला पकड़ा गया।
कोट
कर्मचारियों की तैनाती के नाम पर बड़ा घोटाला किया जा रहा है। गोपनीय शिकायत मिलने पर वर्तमान महापौर स्तर पर पड़ताल कराई गई तो मामला सही पाया गया। अधिकारियों से इस पर जवाब मांगा गया है, लेकिन अभी तक स्पष्ट जवाब नहीं दिया गया है। इसकी शिकायत शासन को भेजी जाएगी।


28 लाख रोजगार के अवसर दिए:मुख्यमंत्री


सरकार ने पिछले दो सालों में 28 लाख रोजगार के अवसर पैदा किए,सीएम योगी


 


लखनऊ ! मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि उनकी सरकार ने पिछले दो सालों में 28 लाख रोजगार के अवसर पैदा किए हैं। जनता ने विकास की लाज को बचाए रखा। जनता ने साफ कर दिया कि जो विकास नहीं करेगा, उसके साथ जनता नहीं होगी। उसे झूठी घोषणाओं, नारों, धरने, प्रदर्शन और राजनीति से मतलब नहीं है। उसे विकास पसंद है। जनता ने लोकलाज से लोकतंत्र को स्थापित किया है। 


मुख्यमंत्री ने बुधवार को विधानसभा में अनुपूरक बजट पर चर्चा में यह बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने एक शेर 'चिराग जिसे आंधियों ने पाला हो, उसे हवा के झोंके बुझा नहीं सकते, पढ़ कर अपनी सरकार की हौसला अफजाई की। जनता ने लोकसभा चुनाव में भाजपा को 80 में से 64 सीटें दिलाईं। उन्होंने कहा कि राज्य को विकास के पथ पर ले जाने के लिए किसी भी तरह की धन की कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा लोकसभा में तीन तलाक का प्रस्ताव आने से काफी पहले ही उत्तर प्रदेश में महागठबंधन का तलाक हो चुका है।


बुंदेलखंड एक्सप्रेस- वे का शिलान्यास दो महीने


बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे का शिलान्यास दो से ढाई महीने में कर दिया जाएगा। इसके लिए जमीन अधिग्रहण का काम चल रहा है। इस एक्सप्रेस वे के दोनों ओर औद्योगिक गलियारा विकसित होगा। इसके साथ ही डिफेंस कारीडोर को भी इस एक्सप्रेस वे से खासा फायदा होगा। पूर्वांचल एक्सप्रेस वे अगस्त 2020 तक चालू हो जाएगा।


विकास भवन में बहता विकास:कानपुर

 


कानपुर । विकास भवन एक ऐसा नाम जो शहर के विकास का कार्य करता है लेकिन जब वो विभाग ही विकास के लिए तड़प रहा हो तो शहर का क्या हाल होगा।
हम बात कर रहे है अपने शहर कानपुर के विकास भवन की जहां से शहर के विकास के लिए रणनीति व कार्य योजना तैयार की जाती है! वहीं ये भवन बिना कार्ययोजना के हुए कार्य से विकास होते हुए भी जल भराव से ग्रसित है । अब यही से अंदाजा लगाया जा सकता है !जहाँ शहर का आला अधिकारी बैठता हो तथा अन्य अधिकारी का आवागमन होता हो तो उस के बावजूद विकास भवन अपनी कहानी कह रहा है! दूसरी तरफ अधिकारी क्लीन कानपुर, ग्रीन कानपुर की बात कर रहे है! वही विकास करने वाला विकास भवन में बजबजाती नाली बहते नाले रोड पर भरा पानी मानो जैसे किसी मलिन बस्ती में आ गए है।
नाम ना बताने की शर्त पर वहां के कर्मचारी ने बताया यहाँ पानी निकासी की कोई व्यवस्था नही है! अगर एक बार बारिश का पानी भर जाए तो महीनों पानी नही निकलता ! अगर बारिश के मौसम की बात करे तो मानो जैसे तालाब के किनारे भवन बना हुआ है !आलाअधिकारी जैसे आंखों पर पट्टी बांध लिया है।


शाह मोहम्मद


भारत का पहला गोब्रेज कैफे होगा:अंबिकापुर

प्लास्टिक कचरा लाएं और भरपेट खाना खाएं


अंबिकापुर ! आपने शानदार खाना परोसने वाले कई बेहतरीन कैफे के बारे में सुना होगा। लेकिन क्या आपने कभी कचरा कैफे का नाम सुना है? नाम पर न जाएं क्योंकि यहां भी खाना ही मिलेगा। लेकिन पैसों से नहीं बल्कि प्लास्टिक कचरे के बदले।


दरअसल छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर शहर में प्लास्टिक के कचरे से निबटने और गरीब लोगों का पेट भरने के लिए एक पहल शुरू की गई है। ये कैफे जल्दी ही अंबिकापुर नगर निगम द्वारा खोला जाना है।ये अपने आप में भारत का पहला गार्बेज कैफे होगा। यहां लोग घर में बेकार पड़ा प्लास्टिक का कचरा दे सकेंगे और इसके बदले में कचरे के वजन के बराबर खाना खा सकेंगे। ये कैफे अंबिकापुर नगर निगम शहर के मुख्य बस स्टैंड पर खोला जाएगा। वहीं सड़क पर प्लास्टिक का कचरा बीनने वालों को एक किलो प्लास्टिक के बदले में मुफ्त भोजन दिया जाएगा। वहीं आधा किलो प्लास्टिक के बदले में नाश्ता दिया जाएगा।


वीवीआईपी सुरक्षा से हटाए 1300 कमांडो

वीवीआईपी सुरक्षा से हटाए गए 1300 कमांडो


नई दिल्ली ! केंद्रीय गृहमंत्रालय ने 350 वीआईपी की सुरक्षा में लगे एनएसजी कमांडो समेत 1,300 सुरक्षाकर्मियों को हटा लिया है। सुरक्षा में हुई इस कटौती में सभी दलों के नेता शामिल हैं। इस फैसले के तहत कुछ नेताओं की सुरक्षा में कटौती की गई है, जबकि कुछ की सुरक्षा कवर सेंट्रल लिस्ट से हटा दी गई है। इन 1,300 जवानों में अधिकतर विशेष रूप से प्रशिक्षित सीआईएसएफ, सीआरपीएफ और हाइ-प्रोफाइल एंटी-टेरर फोर्स एनएसजी के ब्लैक कैट कमांडो शामिल हैं।


जिन नेताओं की केंद्रीय सुरक्षा में कटौती की गई है या घटाई गई है, उसमें दिग्गज विपक्षी नेताओं के साथ ही भाजपा और आरएसएस से जुड़े लोग भी शामिल हैं। मोदी सरकार के दोबारा सत्ता में आने के बाद पहली बार गृहमंत्रालय ने वीआईपी को मुहैया की जाने वाली सिक्योरिटी में इतने बड़े पैमाने फेरबदल किया है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कई नेताओं को केंद्र और राज्य सरकारों दोनों की तरफ से सुरक्षा दी जा रही थी। इसके कारण मैनपावर की बर्बादी हो रही थी। इसलिए केंद्र सरकार ने कुछ की सुरक्षा में कटौती करने और कुछ में बदलाव करने का फैसला किया है। गौरतलब है कि केंद्र सरकार किसी भी वीआईपी को उस पर मंडराने वाले खतरे का आकलन करने के बाद ही जरूरी सिक्योरिटी कवर मुहैया कराती और उसकी वक्त-वक्त पर समीक्षा भी करती रहती है।


चुनाव से पहले एनसीपी को झटका:महाराष्ट्र

महाराष्ट्र: विधानसभा चुनाव से पहले एनसीपी को झटका


मुंबई ! महाराष्ट्र में इस साल के अतं में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। इससे कुछ महीने पहले ही राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को बड़ा झटका लगा है। एनसीपी नेता और पूर्व मंत्री सचिन अहीर शिवसेना में शामिल हो गए हैं। अहीर ने शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे की मौजूदगी में पार्टी की सदस्यता ली।अहीर एनसीपी के मुंबई प्रमुख थे। महाराष्ट्र की कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन वाली सरकार में अहीर कैबिनेट मंत्री का पदभार संभाल चुके हैं। उनके एनसीपी छोड़कर शिवसेना में जाने से एक बार फिर विपक्ष की स्थिति बिगड़ गई है।


अश्लील वीडियो के बाद दोनों नेता बर्खास्त

अश्लील विडियो सामने आने के बाद बीजेपी के दो नेता बर्खास्त


शिमला ! हिमाचल प्रदेश की राजनीति में एक अश्लील वीडियो सामने आने के बाद हड़कंप मच गया है। वीडियो में हिमाचल बीजेपी महिला मोर्चा की एक नेता नजर आ रही है। वहीं, महिला नेता के साथ जो पुरुष मौजूद है, वह भाजयुमो का पदाधिकारी है। मामले की पुष्टि करते हुए बंजार से बीजेपी विधायक सुरेंद्र शौरी ने कहा कि दोनों लोगों को पार्टी से निकाल दिया गया है।


बीजेपी विधायक सुरेंद्र शौरी ने कहा, 'दोनों को पार्टी से निकाल दिया गया है। पार्टी में ऐसे लोगों का स्थान नहीं होना चाहिए और न होगा। इस तरह की अश्लीलता को संगठन के अंदर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।गौरतलब है कि इस विडियो के बारे में कयास लगाए जा रहे हैं कि यह किसी सरकारी गेस्ट हाउस के बाथरूम का है। हालांकि, यह विडियो कहां से वायरल हुआ, इस बात का अभी तक कोई पता नहीं लग सका है। बीजेपी ने दोनों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है।


बिजली गिरने से 50 से ज्यादा मौत

आसमानी कहर: बिहार-झारखंड में बिजली ग‍िरने से 50 से ज्यादा लोगों की मौत


नई दिल्ली ! भीषण बाढ़ से जूझ रहे बिहार में आफत कम होने का नाम नहीं ले रही है, अब स्‍थानीय लोगों को आकाशीय बिजली के प्रकोप का सामना करना पड़ रहा है, बीते 24 घंटे के अंदर राज्‍य में 43 से ज्यादा लोगों की आकाशीय बिजली की चपेट में आकर मौत हो गई, जबकि बिहार में बाढ़ से मरने वालों की कुल संख्‍या 123 पहुंच गई है।


प्राप्त जानकारी के मुताबिक भागलपुर में पांच, बेगूसराय में पांच, सहरसा में तीन, पूर्णिया में तीन, अररिया में दो, जमुई में दो, कटिहार में दो, खगड़िया में एक, मधेपुरा में एक, दरभंगा में दो मधुबनी में एक, सीतामढ़ी में एक, मोतिहारी, गया में एक-एक और पूर्णिया में तीन की मौत हुई है। यही हाल झारखंड का भी है, यहां के दुमका और जामताड़ा जिलों में 12 लोग बिजली गिरने की चपेट में आने से मारे गए।बीते 24 घंटों के दौरान पटना में बारिश हुई, जिससे तापमान में गिरावट दर्ज की गई है, इस बीच आपदा प्रबंधन विभाग ने बिहार में अगले 72 घंट तक के लिए आफत की बारिश का अलर्ट जारी किया है। विभागीय जानकारी के अनुसार राज्‍य के 12 जिलों के 1123 पंचायतों में 69.27 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हैं। बारिश के कारण फिर आने वाली बाढ़ में ये आंकड़े और बढ़ने तय हैं।


बीवी को गोली मारने से अच्छा है तलाक

 तीन तलाक बिल: एसपी सांसद का विवादित बयान


तीन तलाक बिल पर लोकसभा में चर्चा हो रही है। केंद्र सरकार ने तीसरी बार लोकसभा में इस बिल को पेश किया है, यहां से मंजूरी मिलने के बाद इसे राज्यसभा में पेश किया जाएगा। इस बीच समाजवादी पार्टी के सांसद एसटी हसन सदन से बाहर अनर्गल बयान देते हुए कहा है कि बीवी को गोली मारने से बेहतर तीन तलाक देकर रुखसत करना है।उन्होंने कहा, 'बीवी को गोली मारने से अच्छा है कि उसे तलाक दे दें। किसी भी मजहब के निजी मामले में सरकार को दखल नहीं देना चाहिए। इसे सिर्फ एक फिरका मानता है। एक साथ तीन तलाक को सभी लोग नहीं मानते और एक महीने का गैप रखा जाता है। कभी-कभी ऐसे हालात होते हैं कि अलग होना ही रास्ता होता है तो गोली मारने से बेहतर है कि तीन तलाक देकर महिला को निकाल दिया जाए।मुस्लिम महिलाओं से न्याय के सवाल पर एसटी हसन ने कहा, 'महिलाओं के साथ इस्लाम ने बहुत न्याय किया है। वह जब चाहें अपने पति से खुला ले सकती हैं। मुस्लिम पर्सनल लॉ में बदलाव करना और शरीयत में बदलाव करना गलत है। यदि आप किसी पुरुष को तीन तलाक पर तीन साल की सजा देते हैं तो फिर वह परिवार को गुजारा भत्ता कैसे देगा। क्या यह गलत नहीं है। यदि हिंदू और ईसाई पुरुषों को ऐसे मामले में महज एक साल की ही सजा है तो फिर मुस्लिमों को तीन वर्ष की सजा क्यों।


तीन तलाक पीड़ित महिलाओं को इंसाफ : प्रसाद

तीन तलाक पीड़ित महिलाओं को इंसाफ दिलाकर रहेंगे


नई दिल्ली ! न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने लोकसभा में मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) विधेयक 2019 पर चर्चा और पारित करने के लिए पेश किया। इसमें विवाहित मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की संरक्षा करने और उनके पतियों द्वारा तीन बार तलाक बोलकर विवाह तोड़ने को निषेध करने का प्रावधान किया गया है।


बहस के दौरान रविशंकर प्रसाद ने कहा कि तीन तलाक पर रोक लगाने संबंधी विधेयक सियासत, धर्म, सम्प्रदाय का प्रश्न नहीं है बल्कि यह नारी के सम्मान और नारी-न्याय का सवाल है। हिन्दुस्तान की बेटियों के अधिकारों की सुरक्षा संबंधी इस पहल का सभी को समर्थन करना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट की तल्ख टिप्पणी और कानून लाने के बाद मुझे लगा था कि ये रुक जाएगा। ये महिला की गरिमा और सम्मान का मामला है। तीन तलाक मामलों में महिलाओं को न्याय दिलाकर रहेंगे।आरएसपी के एन के प्रेमचंद्रन ने विधेयक पर चर्चा और पारित करने के लिए पेश किए जाने का विरोध करते हुए इस संबंध में सरकार द्वारा फरवरी में लाए गए अध्यादेश के खिलाफ सांविधिक संकल्प पेश किया। संकल्प पेश करने वालों में अधीर रंजन चौधरी, शशि थरूर, प्रो. सौगत राय, पी के कुन्हालीकुट्टी और असदुद्दीन ओवैसी भी शामिल हैं।


मन करता है आंखों में आंखें डाले रहूँ:आजम

लोकसभा में महिला स्पीकर पर आजम खान की टिप्पणी से हंगामा


लोकसभा में तीन तलाक बिल को लेकर चल रही बहस के दौरान सपा सांसद के महिला स्पीकर रामा देवी को लेकर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी से सदन में हंगामा खड़ा हो गया। केंद्रीय कानून मंंत्री रविशंकर प्रसाद समेत तमाम नेताओं ने आजम खान से माफी की मांग की।


आजम खान ने चेयर पर बैठी रमा देवी से कहा, 'आप मुझे इतनी अच्छी लगती हैं कि मेरा मन करता है कि आपकी आंखों में आंखें डाले रहूं।' उनकी इस बात पर आपत्ति जताते हुए कहा रविशंकर प्रसाद ने कहा कि आजम को इस बयान पर माफी मांगनी चाहिए। इस पर आजम खान ने कहा कि वह (रमा देवी) मेरी बहन जैसी हैं, माफी किस बात की मांगनी चाहिए?


इस पर भाजपा सांसदों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। आजम की टिप्पणी से चेयर पर मौजूद रमा देवी भी असहज हो गईं और इसके बाद खुद लोकसभा के स्पीकर ओम बिरला ने खुद चेयर संभाल ली। रविशंकर प्रसाद ने आजम खान का विरोध करते हुए कहा कि यह बेहद आपत्तिजनक है! लोकसभा स्पीकर के लिए आज तक किसी ने इस तरह की टिप्पणी नहीं की होगी। वह भी महिला स्पीकर के लिए। उन्हें बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए।


पाकिस्तानी मुद्रा तीस प्रतिशत खिसकी

कराची ! पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को सत्ता में आने के करीब एक साल बाद लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है! पिछले साल जुलाई में सत्ता में आने के बाद से खान को भुगतान संतुलन और खस्ताहाल आर्थिक स्थितियों से जूझना पड़ रहा है! वित्तीय संकट से जूझ रहे पाकिस्तान में चीजों के दाम तेजी से बढ़ रहे हैं! डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया 30 प्रतिशत तक टूट गया है और मुद्रास्फीति की दर करीब 9 प्रतिशत पर है. इसके अभी और बढ़ने की आशंका है! कराची की रहने वाली 30 शमा परवीन ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया , ” टमाटर की कीमतें आसमान छू रही हैं!


इमरान खान ने कबूला- पाकिस्तान में आज भी हैं 40 हजार आतंकी


वहीं , 60 वर्षीय मोहम्मद अशरफ ने कहा , ” मुझे अपनी खर्चों को पूरा करने के लिए रोजाना कम से कम 1,000 रुपये कमाने की जरूरत है! इन दिनों मैं मुश्किल से पांच – छह सौ रुपये बचा पा रहा हूं! मैं कभी-कभी सोचता हूं कि अगर मैं बीमार पड़ गया तो कैसे दवा और इलाज का खर्चा उठा पाऊंगा ? मुझे लगता है कि मुझे मरना होगा!” विश्लेषकों ने चेताया कि पाकिस्तान की तेजी से बढ़ती जनसंख्या आर्थिक वृद्धि से कही आगे हैं!


अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष से 6 अरब डॉलर के कर्ज को मंजूरी मिलने के बावजूद देश को समस्याओं से फौरी तौर पर कोई राहत नहीं मिलेगी! इस महीने की शुरुआत में कारोबारियों ने एक दिन की हड़ताल की है और शुक्रवार को करीब 8,000 लोगों ने बढ़ती कीमतों के खिलाफ मार्च किया! 32 वर्षीय स्नातक ने एएफपी को बताया,यह सरकार पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है!यह देश को दिन पर दिन गरीब बना रही है!


एक हाथ में माला एक में भाला : साध्वी

 भड़काऊ भाषण


साध्वी प्राची का विवादित बयान, मुसलमानों से कांवड़ न खरीदने की अपील


बागपत ! अपने विवादित बयानों के कारण सुर्खियों में रहने वाली विश्व हिंदू परिषद की नेता साध्वी प्राची ने भड़काऊ बयान दिया है! इस बार साध्वी प्राची के निशाने पर कैराना के समाजवादी पार्टी के विधायक नाहिद हसन थे! जिन्होंने पिछले दिनों मुसलमानों से बीजेपी से जुड़े दुकानदारों के बहिष्कार की अपील की थी! अब साध्वी प्राची ने उसी अंदाज में मुस्लिम कारीगरों के हाथों बनी कांवड़ ना खरीदने की अपील की है!


दरअसल साध्वी प्राची कांवर शिविर का उद्घाटन करने बागपत आई थीं! साध्वी प्राची ने बिना किसी का नाम लिए अपने भाषण में कहा कि आजादी के बाद जो लोग हिंदुस्तान में रह गए, वो इंसानियत से रहें! अगर गुर्राए तो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा! भगवान शिव का हवाला देते हुए साध्वी प्राची ने कहा कि एक हाथ में माला और दूसरे में भाला उठा लो, क्योंकि अगर किसी ने आंख दिखाई तो उसके साथ भाला से काम लेना पड़ेगा!


साध्वी प्राची ने आरोप लगाया कि पीएम मोदी के सबके साथ सबका विकास और सबका विश्वास नारे को फ्लॉप करने की साजिशें चल रही हैं! फर्जी वीडियो बनाकर जय श्रीराम नारे को लेकर सरकार को बदनाम किया जा रहा है! साध्वी प्राची ने कहा कि लोग वीडियो बनाकर जबरदस्ती झूठ बोल रहे हैं! हिन्दुस्तान छवि खराब करने के लिए ये प्रोग्राम बना रहे हैं! साध्वी प्राची ने कहा कि हरिद्वार में जो लोग कांवड़ बना रहे है वो मुस्लिम हैं! कांवड़ियों को उनका बहिष्कार कर देना चाहिए!


बता दें साध्वी पहले भी ऐसे विवादित बयान दे चुकी हैं! साध्वी ने कहा था कि मुस्लिम महिलाएं हिन्दू धर्म को अपना लें! ऐसा करने से वे तीन तलाक और हलाला जैसी बुराइयों से बच पाएंगी!


राजीव गांधी हत्याकांड में दोषी जेल से बाहर

राजिव गांधी की हत्या की दोषी जेल से बाहर आई 


चेन्नई ! पूर्व प्रधानमंत्री राजिव गांधी की हत्या दोषी नलिनी आज गुरूवार को 30 दिन की पैरोल पर बाहर आई है।नलिनी के वकील ने मद्रास हाईकोर्ट से नलिनी के बेटी की शादी में 6 महीने पैरोल की मांग की थी। इस पर मद्रास हाईकोर्ट ने नलिनी की बेटी की शादी पर 30 दिन की पैरोल पर रिहा करने के आदेश जारी कीए थे। नलिनी पूर्व प्रधानमंत्री राजिव गांधी की हत्या करने पर जेल में उम्र कैद की सजा काट रही है। नलिनी की बेटी अभी लंदन में रह रही है।


मार गिराया 25000 का इनामी शातिर

खेकड़ा थानाप्रभारी अजय कुमार शर्मा व उनकी पुलिस टीम को मिली बड़ी सफ़लता ! खेकड़ा थानाप्रभारी अजय शर्मा ने मुठभेड़ के दौरान मार गिराया 25 हजारी शातिर बदमाश बावरिया गैंग का सरगना संदीप!


तस्लीम बेनकाब


बागपत। एसपी बागपत शैलेश पांडे के कुशल एवं मार्ग निर्देशन में एक ओर शानदार सफ़लता खेकड़ा थानाप्रभारी अजय कुमार शर्मा व उनकी टीम को मिली 25 हजारी बदमाश को खेकड़ा थाना पुलिस टीम ने बनाया काल का ग्रास ! लगातार सफलताओं से खेकड़ा पुलिस टीम में उच्चाधिकारियों की नेत्रत्वो से  बढ़ाया हुआ हैं मनोबल!अपराधियों के द्वारा अपराध को अंजाम देने के बाद कम समय मे ही घटनाओ को खोलकर खेकड़ा थानाप्रभारी अजय कुमार व उनकी तेजतर्रार पुलिस टीम आम जन में पुलिस का बड़ा रहें विश्वास!


बावरिया गैंग के सरगना को पहुंचाया मुठभेड़ के दौरान उसके अंजाम तक,पुलिस मुठभेड़ में मारा गया 25 हजारी शातिर बदमाश ! खेकड़ा पुलिस टीम ने मुठभेड़ में 25 हजार का इनामी बदमाश किया ढेर!पुलिस ने बदमाश संदीप को मार गिराया!


विदित हो कि कल मुठभेड़ में फरार हुआ था बदमाश,इस गिरोह के शातिर बदमाशों को मुठभेड़ के दौरान लँगड़ा कर किया था खेकड़ा थानां पुलिस टीम ने गिरफ्तार! खेकड़ा के मुबारिकपुर रोड पर हुई मुठभेड़, मुठभेड़ में मारा गया शातिर इनामी बदमा ! मारे गए बदमाश संदीप के खिलाफ पूर्व में बताये जा रहें काफ़ी अलग अलग संगीन धाराओं में मुक़दमे, इलाके में मचा रखा था बदमाश संदीप ने खोफ़ ! एस पी बागपत शैलेश पांडे ने मुठभेड़ घटना स्थल पहुंचकर बारीकी के साथ की मुठभेड़ घटना स्थल जांच ! यो वही इस बेहतरीन गुड वर्क को अंजाम देने वाली थानां खेकड़ा पुलिस टीम की हौसला अफ़जाई!


मध्य-प्रदेश की कांग्रेस सरकार हासिये पर


अब मध्यप्रदेश में सिद्धारमैया की तलाश। 
अशोक गहलोत की वजह से राजस्थान में फिलहाल ऑपरेशन नहीं। 



सरकार गिराने का जो फार्मूला कर्नाटक में अपनाया गया वहीं फार्मूला अब मध्यप्रदेश में अपनाया जा सकता है। कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन की सरकार को गिराने में भाजपा ने सीधा दखल नहीं दिया। सरकार से जुड़े किसी भी विधायक को भाजपा में शामिल नहीं किया। कर्नाटक में भाजपा ने पूर्व सीएम और कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व से नाराज चल रहे सिद्धारमैया पर डोरे डाले। इशारा मिलते ही कांग्रेस के 13 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया। तीन जेडीएस के विधायको को मिलाकर इस्तीफा देने वालों की संख्या 16 तक पहुंच गई। सुप्रीम कोर्ट ने भी कह दिया कि इस्तीफा देने वाले 16 विधायक मतदान के समय विधानसभा में उपस्थित रहने और न रहने के लिए स्वतंत्र हैं। यही वजह रही कि 23 जुलाई को विधानसभा में मतदान हुआ, तो कुमार स्वामी की सरकार के समर्थन में 99 वोट तथा विपक्ष में 105 वोट पड़े । यानि कांग्रेस जेडीएस को बहुमत होते हुए भी हार मिली, जबकि बहुमत न होने पर भी भाजपा की जीत हुई। मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार का बहुत किनारे पर है। 230 सदस्यों में से 114 कांग्रेस के हैं, जबकि 109 भाजपा के हैं। चार निर्दलीय एक एसपी तथा दो बसपा के हैं। निर्दलीय विधायकों ने कमलनाथ सरकार को समर्थन दे रखा है, इसलिए  कांग्रेस की सरकार टिकी हुई है। कर्नाटक में तो कांग्रेस के 13 विधायकों ने एक साथ इस्तीफा दिया था। लेकिन यदि मध्यप्रदेश में पांच छह विधायक भी इस्तीफा दे दें तो विधानसभा में भाजपा की जीत हो जाएगी। बसपा के विधायकों का समर्थन कोई मायने नहीं रखता है क्योंकि मायावती के दबाव के बाद भी कर्नाटक में बसपा के तीन विधायक सदन में अनुपस्थित रहे। बसपा के विधायक तो सभी जगह लुढ़कने लोटे की तरह हैं। यह बात मध्यप्रदेश में कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री कमलनाथ को भी पता है। कर्नाटक के ऑपरेशन के बाद मधयप्रदेश में भी ऑपरेशन की तैयारियां हो सकती है इस बात का आभास कमलनाथ को भी है। इसलिए कमलनाथ ने कहा कि उन्हें कुमार स्वामी न समझा जाए। कमल नाथ कुछ भी कहें लेकिन भाजपा को तो मध्यप्रदेश में सिद्धारमैया की तलाश है। यदि सिद्धरमैया मिल जाए तो मध्यप्रदेश के कई कांग्रेसी विधायक मुम्बई के किसी पांच सितारा होटल में मौज मस्ती करते नजर आएंगे। जैसे सुसाइड बम का कोई तोड़ नहीं है उसी प्रकार राजनीति में विधायकों के इस्तीफे का कोई तोड़ नहीं है। कमलनाथ यह भी समझ लें कि राजनीति में कर्नाटक के बीएस येड्डियूरप्पा से भी मजबूत स्थिति शिवराज सिंह चौहान की है। 
राजस्थान में फिलहाल ऑपरेशन नहीं:
जानकार सूत्रोंके अनुसार राजस्थान में अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को गिराने का फिलहाल कोई इरादा नहीं है। मध्यप्रदेश में तो मुश्किल से पांच सात विधायकों से ही सरकार को खतरा हो जाएगा, लेकिन राजस्थान में कांग्रेस और भाजपा विधायकों की संख्या में अंतर काफी है। 200 सदस्यों वाली विधानसभा में 100 विधायक कांग्रेस के हैं, जबकि भाजपा विधायकों की संख्या 72 है। गहलोत सरकार के 12 निर्दलीय और 5 बसपा के विधायकों का भी खुला समर्थन है। वैसे ये 18 विधायक किधर भी आ जा सकते हैं। फिलहाल कांग्रेस की सरकार है तो कांग्रेस के साथ हैं। चूंकि अशोक गहलोत पुराने राजनेता है और तीसरी बार मुख्यमंत्री बने हैं। गहलोत को अल्पमत की सरकार चलाने का भी अनुभव हैं। गहलोत की वजह से ही राजस्थान में फिलहाल कोई ऑपरेशन शुरू नहीं किया जाएगा। यदि गहलोत की जगह और कोई मुख्यमंत्री होता तो राजस्थान में सिद्धरमैया को तैयार कर लिया जाता। जब कर्नाटक में बोटिंग के समय सरकार से जुड़े 20 विधयक अनुपस्थित रह सकते हैं तो फिर राजस्थान में क्यों नहीं? हाल के लोकसभा चुनाव में भाजपा को 185 विधानसभा क्षेत्रों में जीत मिली है। कांग्रेस सभी 25 सीटों पर हारी है। 
एस.पी.मित्तल


कश्मीर पर कोई बात ही नहीं हुई:राजनाथ

नई दिल्ली ! अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के कश्मीर मध्यस्थता बयान पर संसद में संग्राम जारी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान पर अड़े विपक्षी दलों ने लोकसभा में जमकर हंगामा किया। विदेश मंत्री जयशंकर के बाद बुधवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह इस मामले पर सफाई देने के लिए सामने आए। राजनाथ ने सरकार की तरफ से एक बार फिर दोहराया कि पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति की मुलाकात जरूर हुई थी, लेकिन कश्मीर पर दोनों में कोई बात नहीं हुई। उन्होंने कहा कि कश्मीर पर मध्यस्थता स्वीकार करने का सवाल ही नहीं उठता। सरकार राष्ट्र के स्वाभिमान के साथ कभी समझौता नहीं करेगी। रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि हम कश्मीर पर ही नहीं, बल्कि पाक अधिकृत कश्मीर पर भी बात करेंगे। राजनाथ के दौरान कांग्रेस ने वॉकआउट कर विरोध जताया।


33 साल अटेंडेंस,122 के वेतन रोके:रांची

कॉलेजों पर सरकार सख्त:शिक्षकों व कर्मचारियों का 33 साल का अटेंडेंस मांगा, 122 शिक्षकों के वेतन पर रोक



रांची । राज्य सरकार ने एक बार फिर सभी छह विश्वविद्यालयों के अंतर्गत 12 नवांगीभूत कॉलेजों के मामले में सख्ती बरती है। सरकार ने सभी कुलपति और रजिस्ट्रार को पत्र भेज कर 1986 से अब तक सभी शिक्षकों और कर्मचारियों के अटेंडेंस (वास्तविक कार्य दिवस में उपस्थिति) की जानकारी मांगी है। इसके लिए एक फॉर्मेट भी भेजा गया है। इसके अलावा सरकार ने संबंधित विवि प्रशासन से इन कॉलेजों के 122 शिक्षकों और कर्मचारियों के वेतन भुगतान की भी जानकारी मांगी है।


सरकार ने जो जानकारी मांगी है
खास बात यह है कि सरकार ने जानना चाहा है कि नवांगीभूत कॉलेज में शिक्षकों व कर्मचारियों का सेवा समंजन से पूर्व सबको वेतन भुगतान कहां और किस मद से किया गया है। अगर इन शिक्षकों व कर्मचारियों को नियम  विरुद्ध वेतन दिया गया है, तो क्यों नहीं इस राशि की वसूली की जाये। या फिर सरकार द्वारा दी गयी राशि से भुगतान हुआ, तो इस स्थिति में इसकी वसूली कैसे होगी। अगर वसूली नहीं हो सकती है, तो विवि प्रशासन इसका भी कारण लिखित रूप से बताये।


सभी विवि में हड़कंप
फिलहाल सरकार के इस पत्र से सभी विवि में हड़कंप है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के आलोक में सरकार ने पूर्व में ही सभी विवि को पत्र भेज कर नवांगीभूत कॉलेजों के 122 शिक्षकों के वेतन पर रोक लगा दी है। उच्च शिक्षा निदेशक दिनेश प्रसाद ने सभी विवि को पत्र भेज कर कहा है कि वेतन भुगतान अगर वास्तविक कार्यदिवस के आधार पर भी हुआ है, तो विवि सबकी विस्तृत जानकारी के साथ अटेंडेंस शीट को अभिप्रमाणित कर उपलब्ध करायें।
अभिषेक सिंह धानुक


पत्रकारिता के नए मान्यता नियम लागू

पत्रकारों के लिए नये मान्यता नियम लागू
रायपुर। प्रदेश में कार्यरत पत्रकारों के लिये बनाये गये नये अधिमान्यता नियम छत्तीसगढ़ राजपत्र में अधिसूचना प्रकाशन के साथ ही प्रभावशील हो गये हैं। मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल की मंशानुरूप अधिमान्यता नियमों को व्यापक किया गया है तथा अब विकासखण्ड स्तर के समाचार मीडिया प्रतिनिधियों को भी जनसंपर्क संचालनालय द्वारा अधिमान्यता प्रदान की जायेगी। इसी प्रकार राज्य के सेवानिवृत्त वरिष्ठ पत्रकारों को भी मानद अधिमान्यता प्रदान करने का प्रावधान नये अधिमान्यता नियमों में किया गया है!


इस संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए आयुक्त जनसंपर्क तारन प्रकाश सिन्हा ने बताया कि अभी तक प्रचलित अधिमान्यता नियम, छत्तीसगढ़ राज्य गठन के बाद वर्ष 2001 में बनाये गये थे। गत अठ्ठारह वर्षों के दौरान मीडिया परिदृश्य में अमूलचूल परिवर्तन आया है। इस दौरान टीवी न्यूज चैनल्स, समाचार वेबपोर्टल आदि प्रारंभ हुये है और कार्य परिस्थितियां भी बदली। अधिमान्यता नियमों को समय के अनुसार प्रासंगिक बनाने और नये समाचार मीडिया को स्थान प्रदान करने के लिए अधिमान्यता नियमों में व्यापक परिवर्तन किया गया है। नये अधिमान्यता नियमों में प्रिन्ट मीडिया के अलावा टीवी न्यूज चैनल्स, न्यूज पोर्टल, समाचार पत्रिकाओं आदि के संवाददाताओं, फोटोग्राफर और कैमरामैन को अधिमान्यता दिये जाने का प्रावधान किया गया है। समाचार मीडिया के प्रचार संख्या, प्रसारण क्षेत्र, वेब पोर्टल की दशा में व्यूवर्स की संख्या आदि के आधार न केवल अधिमान्यता कोटा निर्धारित किया गया है वरन पहले प्रचलित अधिमान्यता नियमों की तुलना में संख्या की व्यापक बढ़ोत्तरी की गयी है। आयुक्त श्री सिन्हा ने यह भी बताया कि समाचार मीडिया प्रतिनिधियों को अधिमान्यता प्रदान करने का कार्य पूर्व की भांति राज्य एवं संभाग स्तरीय अधिमान्यता समितियों द्वारा ही किया जायेगा किन्तु समितियों में इलेक्ट्रिॉनिक मीडिया के समाचार प्रतिनिधियों को शामिल किये जाने का स्पष्ट प्रावधान किया गया है। श्री सिन्हा ने आशा व्यक्त की है कि नये अधिमान्यता नियमों के प्रभावशील होने के बाद समाचार मीडिया प्रतिनिधियों की अधिमान्यता न मिलने संबंधी दीर्घ अवधि से चली आ रही शिकायत का निराकरण हो सकेगा।


हर जिले में बनेगा विशेष पॉक्‍सो कोर्ट:एससी

सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला,


नई दिल्ली ! देश में नाबालिक बच्चे-बच्चियों,छोटे बच्चों के साथ यौन अपराध से जुड़े हुए मामलों को देखते हुए! आज सर्वोच्च न्यायालय ने यह फैसला लिया है! सर्वोच्च न्यायालय देश में  बाल यौन संबंधित अपराध को तुरंत प्रभावी रूप से कम करने का प्रयास किया है!  यह अपराध मानव प्रवृत्ति के पूरी तरह विरुद्ध है! जिसके लिए सर्वोच्च न्यायालय ने पूरी तरह उचित निर्णय लिया है! यह बाल यौन अपराध को रोकने में  प्रभावी साबित होगा!


सुप्रीम कोर्ट ने आज बड़ा फैसला लिया है! कोर्ट ने फैसला किया है! कि केंद्र सरकार देश के प्रत्येक राज्य के, प्रत्येक जिले में विशेष फॉक्‍सो कोर्ट बनाएगी! जहां भी 100 से ज्यादा बाल यौन-शोषण संबंधित मामले लंबित है! ऐसे स्थानों पर 60 दिन के भीतर ही केंद्र सरकार को फंड जारी करके, कोर्ट का निर्माण कराना होगा!


भारतवंशी प्रीति बनी ब्रिटेन की गृहमंत्री

ब्रिटेन की गृहमंत्री बनीं भारतवंशी प्रीति पटेल, पीएम मोदी की है प्रशंसक



लंदन ! प्रीति पटेल भारतीय मूल की पहली महिला हैं, जिनको ब्रिटेन का गृहमंत्री बनाया गया है। इससे पहले एक विवाद के चलते प्रीति पटेल को टेरीजा मे कैबिनेट से इस्तीफा देना पड़ा था।प्रीति पटेल पर इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से गोपनीय मुलाकात करने का आरोप था। इसे राजनयिक प्रोटोकॉल का उल्लंघन माना गया था। इसके बाद ब्रिटेन की तत्कालीन प्रधानमंत्री टेरीजा मे ने प्रीति पटेल को तलब किया था। इसके बाद प्रीति पटेल ने अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था।अब ब्रिटेन की गृहमंत्री बनना प्रीति पटेल के लिए बड़ी कामयाबी मानी जा रही है। इसको उनकी राजनीतिक में शानदार वापसी के रूप में भी देखा जा रहा है। ब्रिटेन की गृहमंत्री बनने के बाद प्रीति पटेल ने ट्वीट कर खुशी जाहिर की है।उन्होंने कहा, 'ब्रिटेन के नए प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन द्वारा गृहमंत्री नियुक्त किए जाने पर बहुत सम्मानित महसूस कर रही हूं। अब ब्रिटेन के गृह विभाग कार्यालय के साथ काम करने का बेसब्री से इंतजार कर रही हूं, ताकि नेशनल सिक्युरिटी, पब्लिक सेफ्टी और सीमाओं को सुरक्षित करने के मामले में अपने देश को यूरोपीय संघ से अलग करने के लिए तैयार कर सकूं।'


प्रीति पटेल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसक मानी जाती हैं। वे कई बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ कर चुकी है। 47 वर्षीय प्रीति पटेल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य गुजरात से ताल्लुक रखती हैं। हालांकि प्रीति पटेल का जन्म लंदन में ही हुआ था। उनके माता-पिता मूल रूप से गुजरात से हैं, लेकिन बाद में युगांडा चले गए थे।


प्रीति पटेल कंजरवेटिव पार्टी के लिए 'बैक बोरिस' अभियान की अहम सदस्य थीं। लिहाजा पहले से ही संभावना जताई जा रही थी कि उनको नई कैबिनेट में कोई बड़ी जिम्मेदारी मिल सकती है।


मूल-सुविधाओं से भी वंछित नागरिक

गाजियाबाद,मुरादनगर ! कांग्रेस जिला महासचिव महताब पठान और जिन प्रत्याशीयो के लिए वोट और सपोर्ट किया लगता है । आज वे लुप्त हो गए कोई सुध लेने को तैयार नही है! ऐसे मे क्या करे कालोनी निवासी ! आज दूषित पानी पीने को मजबूर है! क्योंकि वर्षो से बन रही पानी की टंकी निर्माण रुका हुआ है ! चुनाव के समय मे वोट लेने वाले और बड़े बड़े वादे करने वाले आज कहा है नाली खडंजे टूटे पड़े  लगभग  25  गांव  से जोड़ने वाला ईदगाह रोड आज बद हाल है! जगह जगह गड्ढे ही गड्ढे है गारा कीचड़ होने की वजह से मुरादनगर से सटे हुए ग्रामीण बाजार मे खरीदारी करने से कर रहे है! परहेज बाजार मे भी पड़ रहा है असर बार-बार सिकायत करने के बावजूद अभी कोई सुध लेने वाला नही है! इन गरीब कालोनी निवासीयो की तरह तरह की बीमारीयो से पीड़ित हो रहे है और गरीब परिवार सरकारी लाभ से भी वंचित है! अगर गरीब परिवार  सरकारी  सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाते है तो वहा भी  बहार से लिख देते है दवाई ! मेरी हाथ जोड़कर गुजारिश है हमारे जिले के सम्बन्धित अधिकारी एक बार ईदगाह कालोनी का दौरा करने की मेहरबानी करे!


डोडा पोस्‍त के साथ किए तीन गिरफ्तार

 


सरसावा थाना पुलिस को चेकिंग के दौरान मिली सफलता। अलग-अलग स्थान से तीन अभियुक्तों को डोडा पोस्त के साथ किया गिरफ्तार।



सहारनपुर,सरसावा! वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार पी के आदेशानुसार नशे के विरुद्ध चलाए जा रहे धरपकड़ अभियान के तहत पुलिस अधीक्षक ग्रामीण क्षेत्राधिकारी नकुल के कुशल नेतृत्व में सरसावा थाना प्रभारी प्रमोद कुमार व उनकी टीम ने चेकिंग के दौरान 3 अभियुक्तों को अलग-अलग स्थान से 12 किलो डोडा पोस्ट के साथ गिरफ्तार कर  जेल भेज दिया है।


थाना प्रभारी प्रमोद कुमार ने बताया कि सरसावा थाना पुलिस अलग अलग मार्ग पर चेकिंग कर रही थी। वही चेकिंग के दौरान तीन अभियुक्तों से डोडा पोस्त बरामद किया है। पुलिस टीम ने रायपुर रोड से शलिम पुत्र सादिक निवासी मौहल्ला मिरधान सरसावा के पास से 5 किलो 500 ग्राम डोडा पोस्त बरामद हुआ है।  वहीं वसीम पुत्र वाजिद निवासी मोहल्ला हरिजनान सरसावा को रायपुर रोड से तीन किलो 500 ग्राम डोडा पोस्त बरामद हुआ है। व पुलिस ने चेकिंग के दौरान ही रेलवे स्टेशन के समीप से देवेंद्र पुत्र राजेंद्र निवासी बदरपुर थाना छप्पर जिला मुजफ्फरपुर को 3 किलो डोडा पोस्त के साथ पकड़ा है। पुलिस ने तीनों अभियुक्तों को  मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा दिया है।


रिपोर्ट- योगेश आर्य


स्‍वंय कर देते हैं शिकायतों का निस्तारण

 



बिना पीडि़त की पीड़ा सुने खुद अपने हिसाब से प्रकरण का निस्तारण करते हैं मिश्राना चौकी प्रभारी अजब सिंह


शिकायत कर्ता शिकायत करने के बाद न्याय लगाने की आस लगाए बैठा रहता है लेकिन न फोन न घटना स्थल पर जाना और न पीडि़त की पीड़ा सुनना सब दर किनारे करके खुद फैसला कर लेना विपक्षी के कद और सहुलियत को देखते हुए मनमर्जी का निस्तारण कर रिपोर्ट लगा कर पीडि़तों के साथ अन्याय कर रहे हैं मिश्राना चौकी प्रभारी अजब सिंह।



लखीमपुर-खीरी। एक सत्यता पर पत्रकार खबर प्रकाशित करता है और चारो ओर से घिर जाता है! क्योंकि जिसके विरूद्ध खबर प्रकाशित की वह इतना पावर फुल है कि इस पीडि़त पत्रकार को पानी-पीला दिया ! पुलिस अधीक्षक को दिये शिकायती पत्र में पीडि़त पत्रकार ने अपनी पीड़ा इस तरह से रखी कि कहते है कि दौलत हो पावर हो तो उसके दम पर कुछ करो, कुछ नहीं होगा ! इस बात को सत्य साबित कर रहा है वार्ड नंबर 24 मोहल्ला हिदायत नगर का सभासद पति नईम जिसने अपात्र होकर गरीबों का हक मारा! ऊंची शान शौकत और बुलेट यूपी 31 ए क्यू 3263 और फोर विलर आई टू जीरो मैग्ना कार यूपी 31 बी.सी 7584 जिसकी कीमत आठ से दस लाख रूपए है और सुनहरी मस्जिद के पास जिस दुकान में आलीशान रेडिमेड की शाप है और हिदायत नगर में आलीशान मकान में रईशो सी जिंदगी काटने वाले सभासद पति नईम ने फर्जी दस्तावेज के दम पर प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लिया उसे किराए पर दिया जिसकी खबर दिनांक 17 जून को एक पत्रकार ने प्रकाशित की तो उसकी जान का प्यासा हो गया सभासद पति नईम। वह पीडि़त पत्रकार दूसरे पेपर के कार्यालय बैठा था! तभी नईम अपने आठ दस साथियों के साथ उस पत्रकार को आगे खबर छापने और यह खबर छापने की हिम्मत कैसे की काफी डराया धमकाया!धमकियां दी जिसकी शिकायत पीडि़त पत्रकार ने जनसुनवाई संख्या 40015319018053 दर्ज हुई! मुख्यमंत्री व उच्च अधिकारियों को दी! लेकिन न्याय के नाम पर मिला झूठा मनगढ़ंत फर्जी निस्तारण! जिसमें न पीडि़त की पीड़ा सुनी गई न कोई जानकारी दी गई! दिशाहीन निस्तारण कर दिया  चौकी प्रभारी ने! जिसमें विरोधियों ने कहा कि कार्यालय में कोई घटना नहीं घटित हुुई !क्या कोई चोर या घटना घटित करने वाला सच कबूलता है ! सब अपने को निर्दोष बताते है जिसकी सूचना पीडि़त को दिये बगैर विरोधियों की बात को सच मान गये चौकी प्रभारी ! जबकि जन एक्‍सप्रस प्रभारी ने चौकी से लेकर प्रधानमंत्री तक शिकायती पत्र दिया! सभी पत्रकारों ने एकजुट होकर डीएम को ज्ञापन दिया !प्रकरण को मोड़ा गया, कहा कि हिदायत नगर में किसी अपात्र मोहल्ले वासी को नईम ने आवास नहीं दिया! जबकि सारी प्रकाशित खबरें और शिकायती पत्र में किसी मोहल्ले वाले के पात्र-अपात्र होने की बात नही की गई! बात सिर्फ सभासद पति नईम की है! उसने खुद प्रधानमंत्री आवास अपात्र होकर लिया! जिसका लाभार्थी संख्या 098009008054500028 हैं, बात इसकी है! तो फिर मोहल्ले वालों का नाम पुलिस द्वारा जांच में क्यो लाया गया! सभासद पति नईम द्वारा सभी जानकारी झूठी प्रधानमंत्री आवास में दी है ! दस्तावेज झूठे,सच्चाई कुछ और ! सारे काम गलत पर फिर भी बच रहा! क्योंकि कुछ दलाल, पुलिस ,सत्ता पक्ष को अपने पाले में किए हुए हैं! जिस कारण सभासद पति नईम का हर पक्ष मजबूत है! लेकिन समय चाहे जितना लगे जांच बड़े स्तर से होगी! परियोजना अधिकारी डूडा द्वारा कराई जा रही जांच समझ से परे है! अभी तक कोई जांच का अता पता नहीं चल पाया! बात यह है कि सभासद पति नईम गलत है ,यह साबित होगा! वह मिश्राना चौकी प्रभारी के वैसे चश्मे में सभासद पति नईम की साफ छवि नजर आई! लेकिन छवि गन्दी है,दबंग नईम ने सन् 2016 में सभासद रहते हुए मोहल्ला प्यारेपुर के एक पीडि़त के घर धावा बोला! जिसमें लाठी-डंडे नाजायज तमंचे के बल पर खूब तांडव किया! जिसकी एफ आई आर मु0 अ0 स0 972/2016 धारा 307,323,452,504,506, में दर्ज हुई, और सपा की सरकार थी! जिसमें नईम की अच्छी पकड़ थी!  इस दम पर सभासद पति नईम धारा 307 को हटाने में कामयाब हुआ इस तरह का कद है सभासद पति नईम का जिसने प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेने के लिए सभासद पति नईम ने सरकार से झूठ बोला है सरकारी धन का गलत प्रयोग किया है जो अपराध की श्रेणी में आता है! इसको इसकी सजा जरूर मिलेगी लेकिन बचाने वाले बहुत है मगर सच सबकी बोलती बन्द करते हुये अपनी उपस्थित दर्ज करायेगा।


आरजेएस : सकारात्मक दिवस का लोकार्पण

 


आरजेएस द्वारा सकारात्मक दिवस 24 जुलाई का लोकार्पण 


आरजेएस भारत उदय राष्ट्रीय सम्मान घोषित, एक दम्पति भी शामिल 


नई दिल्ली। सकारात्मक भारत के सपनों को गति देते हुए  सकारात्मक भारत के प्रथम सहयोगी तपसील जाती आदिवासी प्रकटन्न सैनिक कृषि विकास शिल्प केंद्र  के साथ मिलकर  राम जानकी संस्थान नई दिल्ली ने  आरजेएस सकारात्मक भारत दिवस 24 जुलाई का लोकार्पण किया। इस अवसर पर गायक रितेश मिश्रा और शगुन मेहरा सहित मुनि इंटरनेशनल स्कूल,मोहन गार्डन के तमाम विद्यार्थियों के देश भक्ति और पर्यावरण संरक्षण के गीतों ने दर्शकों को मंत्र मुक्त कर दिया । रितेश मिश्रा के जब "जीरो दिया मेरे भारत ने" के आगे "प्रीत जहां की रीत सदा"  की प्रस्तुति पर झुमने लगे। इस अवसर पर आरजेएस के राष्ट्रीय संयोजक उदय कुमार मन्ना और सह-संयोजक सोमेन
कोले ने आरजेएस के सकारात्मक कार्यों के सर्वोच्च राष्ट्रीय पुरस्कार "भारत उदय सम्मान 2019" की घोषणा की!
इस साल स्वतंत्रता दिवस पर 11जुलाई को दिल्ली में आरजेएस जयहिंदजयभारत पार्ट-3 कार्यक्रम में अधिकतम सकारात्मक बैठकें करने वाले लोगों,जिनमें एक दम्पति भीशामिल हैं  का भव्य अभिनंदन किया जाएगा।
 यह हैं आरजेएस स्टार डॉ नरेंद्र टटेसर (टटेसर गांव, दिल्ली)  आजेएस स्टार फैमिली दीनदयाल-रेशम दयाल( गाजियाबाद,उ.प्रदेश), अरुण कुमार (सिलीगुड़ी पश्चिम बंगाल ) चंद्र प्रकाश द्विवेदी ( चित्रकूट,उ.प्रदेश) आशीष पांडे (कटंगी-बालाघाट,मध्य प्रदेश) नादिर त्यागी (स्योहारा, बिजनौर) 
आरजेएस द्वारा 25‌राज्यों में सकारात्मक बैठकों और सकारात्मक पत्रकारिता से भारत निर्माण की कोशिश हो रही है। अब तक सौ बैठकों में 200 से ज्यादा महान आत्माओं को श्रद्धांजलि देकर आशीर्वाद प्राप्त किया गया है।
आरजेएस डायमंड जुबली  बैठक की शुरुआत कारगिल विजय दिवस के शहीदों,महान स्वतंत्रता सेनानी शहीद चंद्रशेखर आजाद, बाल गंगाधर तिलक और आजाद हिंद फौज की कैप्टन लक्ष्मी सहगल को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित कर विश्व प्रकृति संरक्षण पर चर्चा की गई ।बैठक को  भारत सरकार के कैलाश मानसरोवर यात्रा राष्ट्रीय स्वागत परिषद के उपाध्यक्ष, रेडियो ब्रॉडकास्टर पार्थ सारथी थपलियाल , भारतीय मतदाता संगठन के संस्थापक व चेयरमैन टी.टी.ग्रुप रिखबचंद जैन ,वेजले फूड के चेयरमैन अमित बजाज,समाजिक कार्यकर्ता दीवान सिंह, लेखक पत्रकार योगेश कुमार गोयल, समाज सेवी अशोक जैन ,शिक्षिका विजयलक्ष्मी आदि ने संबोधित किया। इसके अलावा गणमान्य लोगों में साहित्यकार डॉ हरिसिंह पाल आर एस सुंदरम्, चिकित्सक और गायिका डा.हरजीत कौर व डॉ सुनील , एन वाई के के अजीम अंसारी आदि शामिल रहे।बैठक में मंच संचालन आकाशवाणी के वरिष्ठ उद्घोषक अशोक शर्मा ने किया और धन्यवाद ज्ञापन आरजेएस आॅब्जर्वर और दिल्ली सरकार में ओएसडी दीप माथुर ने किया।
इस अवसर पर आरजेएस पॉजिटिव मीडिया के जयप्रकाश श्रीवास्तव ,राजेंद्र सिंह यादव ,अफजल खान, अशोक धवन ,आर पी दुबे आर पी चौहान ,सविता शर्मा ,नीतू  सिंह,प्रदीप शर्मा और सद्दाम हुसैन आदि ने आकर डायमंड जुबली बैठक का जोरदार समर्थन किया ।


उदय मन्ना


रूसी विमानों की दक्षिण कोरिया क्षेत्र में घुसपैठ

सियोल ! दक्षिण कोरिया ने रूसी सैन्य विमानों पर चेतावनी देते हुए उनपर हमला किया। दरअसल, रूसी सैन्य विमानों ने दक्षिण कोरिया के हवाई क्षेत्र में प्रवेश करने के बाद चेतावनी जारी है। दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय का कहना है कि कई रूसी सैन्य विमानों ने मंगलवार को अपने पूर्वी तट से दक्षिण कोरियाई हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया।


मंत्रालय का कहना है कि दक्षिण कोरिया ने लड़ाकू जेट उतारे और उन्होंने चेतावनी भरे शॉट दागे।साथ ही उन्होंने कहा कि चीनी सैन्य विमानों ने भी मंगलवार को दक्षिण कोरिया के हवाई क्षेत्र में घुसपैठ की थी। फिलहाल, मंत्रालय ने इस मामले में कोई और जानकारी नहीं दी।


गौरतलब है कि इससे पहले दक्षिण कोरिया के सोल इंचिओन हवाई अड्डे पर सीमा अधिकारियों ने गैर कानूनी गतिविधियों में शामिल होने के संदेह पर रूस के 16 नागरिकों को प्रवेश की इजाजत देने से इंकार कर दिया गया था। इसकी जानकारी रूसी दूतावास के प्रतिनिधि ने सोमवार को दी थी। हालांकि, दूतावास ने कहा कि इन 16 रूसी नागरिकों को दक्षिण कोरिया में इसलिए प्रवेश की इजाजत नहीं दी गई हैं! क्योंकि रूसी नागरिक सीमा अधिकारियों को यह साबित करने में विफल रहे कि वह यहां पर्यटन के लिए आए हैं।


भाजपा नेता ने पुलिस से की अभद्रता

बिना हेलमेट के चेकिंग के दौरान रोके जाने पर भाजपा नेता ने की पुलिस से अभद्रता, एसएसपी ने की सख्त कार्रवाई



मुरादाबाद ! मुरादाबाद पुलिस एसएसपी अमित पाठक के नेतृत्व में थाना सिविल लाइन क्षेत्र में दो पहिया वाहनों का चेकिंग अभियान चलाया जा रहा था। इसी बीच भाजपा कटघर मंडल के अध्यक्ष अरविन्द सिंह बगैर हेलमेट व गाड़ी की नंबर प्लेट पर नंबर की जगह अध्यक्ष लिखाए वहां से गुजर रहे थे। बगैर हेलमेट के नेता जी को देखने पर पुलिस ने रोकने का प्रयास किया,मोटरसाईकिल न रुकती देख चेकिंग में शामिल पुलिस कर्मी ने उनकी बाइक की चाबी निकाल ली,जिसके चलते नेता जी का पारा चड़ गया और नेता जी  बिना कुछ सोचे समझे अपनी नेतागिरी और सत्ता की धौंस जमाते हुए पुलिस को गालियाँ देनी शुरू कर दी। सामने खड़े एसएसपी अमित पाठक ने खाकी पर गालियां बरसते देख नियमों का हवाला देते हुए बताया कि नियम सबके लिए हैं। पहले तो भाजपा नेता की बाइक का बिना हेलमेट में चालान किया उसके बाद सरकारी कार्य में बाधा डालने व पुलिस कर्मियों से अभद्रता करने के आरोप में भाजपा नेता के खिलाफ सिविल लाइन थाने में मुक़दमा दर्ज़ कराया। एसएसपी अमित पाठक के द्वारा उठाए गए इस कदम से से क्षेत्र की जनता में खुशी की लहर दौड़ गई, तारीफ के पूल बांधने शुरू कर दिए हर किसी की जुबान पर एक ही शब्द था की ये पहले एसएसपी है जिन्होंने सत्ता पक्ष के नेता पर कारवाही की है।चेकिंग स्थल पर मौजूद मीडिया कर्मियों ने पूरी घटना की वीडियो बना ली जो कि तेजी से वायरल हो गई।


पंकज सिंह यादव 


छोटी-छोटी घटनाओं को नजरअंदाज ना करें

बालिका सुरक्षा जागरूकता अभिमान के तहत गोष्टी का आयोजन किया गया छात्राओं को सशक्त रहने के गुण                                              
छोटी से छोटी घटना को नही करें नजरंदाज-प्रभारी निरिक्षक अनिल कुमार                                                
जालौन ! कुसमरा के सरस्वती बाल शिक्षा मंदिर इण्टर कालेज में प्रभारी निरिक्षक अनिल कुमार की अगुवाई में पुलिस ने बुधवार को कॉलेज की छात्राओं के बीच बालिका सुरक्षा जागरूकता अभिमान का आयोजित किया गया जिसमें छात्राओं को सुरक्षित रहने के उपाय बताए गए। प्रभारी निरिक्षक ने कहा कि छोटी से छोटी घटना को भी नजरंदाज करना महिलाओं व बच्चियों को भारी पड़ सकता है। जब भी वे किसी असहज स्थिति में हों तो तत्काल शासन द्वारा संचालित योजनाओं के हेल्प नंबर्स पर संपर्क करके अपनी परेशानी जरूर बताएं इस दौरान प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार ने बताया कि यूपी 100, वूमेन हेल्प लाइन 1090, 108, रेल सफर में हेल्प लाइन नं. 182 सहित अन्य उपयोगी नंबर्स के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि पुलिस सदैव उनके साथ है और उनकी मदद के लिए है वही S i केशव यादव ने 'महिला  बालिका सुरक्षा अभियान के तहत अगर किसी भी प्रकार की कोई भी समस्या आती है उसे अपने घर बालो तथा ज्यादा बड़ी समस्या है तो पुलिस तक जरूर ले आये। इस मौके पर काॅन्स्टेबल कपिल कुमार बौबी कुमार , इण्टर कालेज के प्राचार्य  शेखर श्रीवास्तव मानवेंद्र श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे।   


राजकुमार दोहरे


केंद्र और पांच राज्यों से मांगा जवाब:एससी

अवैध रेत खनन में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और पांच राज्यों से मांगा जवाब


   
 नई दिल्ली ! सुप्रीम कोर्ट ने अवैध रेत खनन पर रोक लगाने और अवैध खनन के दोषियों के खिलाफ जांच कर खनन पट्टे रद करने की मांग पर केंद्र और पांच राज्यों तथा सीबीआइ को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है। पांच राज्यों में तमिलनाडु, मध्यप्रदेश, पंजाब, आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र हैं।
ये नोटिस बुधवार को न्यायाधीश एसए बोबडे, आर सुभाष रेड्डी और बीआर गवई की पीठ ने याचिकाकर्ता एम अलागरसामी की जनहित याचिका पर सुनवाई के बाद दिए। शुरुआत में कोर्ट ने याचिकाकर्ता के वकील प्रशांत भूषण और प्रणव सचदेवा से कहा कि उन्हें पहले हाई कोर्ट जाना चाहिए था ताकि सुप्रीम कोर्ट को हाई कोर्ट के आदेश को देखने का मौका मिलता। इस पर भूषण ने कहा कि पूरे देश में नदियों और समुद्र के किनारों पर अवैध रेत खनन हो रहा है। राज्यों की जिम्मेदारी है कि वे खनन को नियमित करें, लेकिन राज्य ऐसा कर पाने में नाकाम हैं। उन्होंने कहा कि अवैध रेत खनन के दोषियों पर मुकदमा चलाया जाए और उनके पट्टे रद किए जाएं। पर्यावरण प्रभाव आकलन और नियमों के सख्त अनुपालन के बगैर रेत खनन की इजाजत न दी जाए। याचिका में अवैध रेत खनन मामलों की जांच सीबीआइ से कराने की मांग करते हुए तमिलनाडु, मध्यप्रदेश, पंजाब, आंध्रप्रदेश और महाराष्ट्र में अवैध रेत खनन के बाबत आई रिपोर्टो का भी हवाला दिया गया है।अवैध रेत खनन में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और पांच राज्यों से मांगा जवाब!


राज्य-योजनाओं में आधार इस्तेमाल मे संशोधन

राज्य की योजनाओं में भी आधार के इस्तेमाल के संशोधन को मंजूरी



नई दिल्ली ! कैबिनेट ने बुधवार को आधार एवं अन्य कानून (संशोधन) विधेयक-2019 में बदलावों को मंजूरी प्रदान कर दी। इसमें राज्य की योजनाओं और सब्सिडी के लिए आधार डाटा के इस्तेमाल को मंजूरी देने संबंधी प्रावधान जोड़ा गया है। कैबिनेट के फैसले के मुताबिक, राज्यों ने (इसकी) मांग की थी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक, आधार का इस्तेमाल वहीं हो सकता है जहां कल्याणकारी योजनाओं के लिए धन सीधे केंद्र सरकार से मिलता हो। संशोधन के बाद राज्य सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी में भी आधार का इस्तेमाल हो सकेगा। इस माह की शुरुआत में संसद ने इस कानून में संशोधनों को मंजूरी प्रदान की थी। जिसमें सिम कार्ड लेने और बैंक खाता खोलने में आधार को स्वैच्छिक बना दिया गया था। एक अधिकारी ने बताया संसद में उक्त संशोधन विधेयक पेश होने के बाद उसमें राज्य योजनाओं में इसके इस्तेमाल संबंधी प्रावधान जोड़ दिया गया था।


18 राज्यों में पॉलिथीन पर पूर्ण प्रतिबंध

18 राज्यों ने प्लास्टिक थैलों पर लगाया पूरी तरह प्रतिबंध



नई दिल्ली !  केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) को बताया कि 18 राज्यों ने प्लास्टिक थैलों के इस्तेमाल पर पूरी तरह रोक लगा दी है। पांच अन्य प्रदेशों ने धार्मिक एवं ऐतिहासिक स्थानों पर प्लास्टिक थैलों के इस्तेमाल पर आंशिक रोक लगाई है।
सीपीसीबी ने एनजीटी को यह भी बताया कि 12 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियमों को लेकर कार्ययोजना पेश कर चुके हैं। उसने एनजीटी के चेयरमैन जस्टिस एके गोयल की पीठ को बताया, '18 राज्य प्लास्टिक के थैलों या उत्पादों पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा चुके हैं। इनके अलावा आंध्र प्रदेश, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, केरल और बंगाल ने धार्मिक या ऐतिहासिक स्थानों पर प्लास्टिक के थैलों या उत्पादों पर आंशिक रूप से प्रतिबंध लगा रखा है।'


सीपीसीबी ने यह भी कहा कि सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों असम, बिहार, गोवा, मणिपुर, मेघालय, पुडुचेरी और तेलंगाना ने प्लास्टिक के थैलों पर प्रतिबंध नहीं लगाया है। एनजीटी ने बोर्ड को 30 सितंबर तक प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम-2016 के क्रियान्वयन पर स्टेटस रिपोर्ट पेश करने और संबंधित राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को आगे कार्रवाई करने के लिए कहने का निर्देश दिया। एनजीटी ने कहा कि क्रियान्वयन में देरी को लेकर जुर्माना वसूली के मुद्दे पर 16 अक्टूबर को होने वाली इस मामले की अगली सुनवाई के दौरान विचार किया जाएगा। एनजीटी, प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियम, 2016 के क्रियान्वयन तथा इससे संबंधित मामलों पर दाखिल सीपीसीबी की याचिका पर सुनवाई कर रहा था।


आपसी सहयोग कर रहे हैं भारत-नेपाल:योगी

एक दूसरे को सहयोग कर रहे भारत-नेपाल : योगी


 लखनऊ ! नेपाल के राजदूत नीलाम्बर आचार्य ने बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की। भारत और नेपाल के बीच व्यापार, धार्मिक, सांस्कृतिक और अन्य क्षेत्रों में आपसी सहयोग पर चर्चा हुई। योगी ने कहा कि भारत और नेपाल की आत्मा एक है और दोनों देश आपसी सहयोग से व्यापार समेत कई क्षेत्रों में कार्य कर रहे हैं।
नीलाम्बर आचार्य ने कुंभ की सफलता पर योगी को बधाई देते हुए कहा कि नेपाल के प्रधानमंत्री हमेशा भारत से बेहतर संबंध बनाने के लिए तत्पर हैं। भारत से टूटकर पाकिस्तान अलग हुआ है लेकिन पाकिस्तान के साथ भारत का वैसा सौहार्द नहीं है जितना कि नेपाल के साथ है। आचार्य ने बताया कि उन्होंने दो वर्ष तक बहराइच के सरकारी इंटर कालेज में पढ़ाई की है। नेपाल के राजदूत ने कहा कि यह खबर बनती है कि नेपाल ने पानी छोड़ दिया है जिससे उत्तर प्रदेश में बाढ़ आ गई।


धोबहा ड्रेन से जल निकासी की संस्तुति : मुख्यमंत्री : मुख्यमंत्री ने कहा कि नेपाल के नवलपरासी स्थित नेपाल बांध के समानांतर बनाई गई धोबहा ड्रेन से जल निकासी की संस्तुति गंडक हाई लेवल कमेटी ने की है। कमेटी ने पांच स्थानों पर पुल बनाए जाने की भी संस्तुति की है। राजदूत ने बताया कि कैलास मानसरोवर यात्र पर जाने वाले उत्तर प्रदेश के यात्रियों की सुविधा के लिए नेपाल सरकार के दूतावास द्वारा सिमीकोट एयरपोर्ट पर एक स्वागत कक्ष व सहायता बनाने पर विचार चल रहा है।


क्लीन-ऐप से मौके पर पहुंचने लगे कर्मचारी

क्लीन एप से मौके पर पहुंचने लगे सफाई कर्मी


औरैया ! जनपद की सफाई व्यवस्था दुरुस्त रखने एवं सफाई कर्मियों की शत-प्रतिशत क्षेत्र में उपस्थिति तय करने के लिए जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने एक मोबाइल एप औरैया क्लीन इनिशिएटिव तैयार कराया है। पॉयलट प्रोजेक्ट के तौर पर अभी केवल इसमें 100 सफाई कर्मियों को जोड़ा गया है। इसके अलावा अभी इस एप पर 488 लोकेशन अपलोड कह गई हैं।
 इस एप पर 410 लोकेशनों पर सफाई कर्मी पहुंचे। इसके अलावा 30 सफाई कर्मियों ने गलत लोकेशन से अपनी उपस्थित दर्ज कराई। वहीं 21 सफाई कर्मियों ने जल्दी-जल्दी लोकेशन अपलोड कर दी। जिससे माना जा रहा है कि इन 21 सफाई कर्मियों ने अपने क्षेत्र में काम नहीं किया है। जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि इस एप के माध्यम से सफाई कर्मियों पर लगने वाले आरोपों की जांच आसानी से हो सकेगी। इसके अलावा यदि प्रधान उन्हें गलत तरीके से परेशान कर रहा है तो उसकी भी जांच इस एप के माध्यम से की जा सकेगी। जिले में 821 सफाई कर्मी हैं।


अनहोनी की आशंका बनी रहेगी:मिथुन

राशिफल 



 मेष ----प्रेम-प्रसंग में सफलता प्राप्त होगी। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। भागदौड़ अधिक रहेगी। स्वास्थ्‍य का पाया कमजोर रहेगा। जल्दबाजी में कोई निर्णय न लें। कोई दु:खद समाचार प्राप्त हो सकता है। विवाद से बचें। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा।



वृष---- भूमि व भवन संबंधी कार्य लाभदायक रहेंगे। रोजगार प्राप्ति के लिए किसी प्रभावशाली व्यक्ति का सहयोग प्राप्त होगा। व्यापार-व्यवसाय से संतुष्टि होगी। जीवन सुखमय व्यतीत होगा। भाग्य का साथ मिलेगा। दूसरों के काम में दखल न दें। शत्रु नतमस्तक होंगे।


मिथुन ----किसी बात के बारे में अनहोनी की आशंका रहेगी। विवाद से क्लेश हो सकता है। शारीरिक कष्ट की आशंका है। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। कारोबार अच्‍छा चलेगा। प्रमाद न करें।



कर्क---- कोई बड़ा व्यय अचानक सामने आ सकता है। आर्थिक स्थिति बिगड़ सकती है। भावना में बहकर कोई निर्णय न लें। किसी व्यक्ति से अकारण विवाद हो सकता है। व्यापार ठीक चलेगा। शारीरिक कष्ट का कारण किसी तरह की लापरवाही हो सकती है। समय ठीक नहीं है।


सिंह--- सुख के साधन प्राप्त होंगे। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। किसी लंबी यात्रा की योजना बन सकती है। नए काम मिलेंगे। कारोबार में वृद्धि होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। स्वास्थ्‍य अच्‍छा रहेगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। चोट लगने से बचें। प्रमाद न करें।


कन्या---- स्वास्थ्य का ध्यान रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। किसी बड़ी समस्या का निराकरण सहज ही होगा। सुख के साधनों पर व्यय होगा। नौकरी में उच्चाधिकारी प्रसन्न रहेंगे। प्रमाद न करें।


तुला ----किसी सही बात का भी विरोध हो सकता है। अच्छी खबर प्राप्त होगी। आर्थिक उन्नति के लिए नई योजना बनेगी। समाजसेवा की प्रेरणा प्राप्त होगी। मान-सम्मान मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। समय की अनुकूलता रहेगी। नए अनुबंध होंगे।



वृश्चिक ----थोड़े प्रयास से ही कार्यसिद्धि होगी। कार्य की प्रशंसा होगी। मित्रों का सहयोग कर पाएंगे। आत्मसंतुष्टि रहेगी। धन प्राप्ति के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। भाग्य का साथ रहेगा। जोखिम उठाने का साहस कर पाएंगे। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा।


धनु -----व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। फालतू खर्च होगा। शारीरिक कष्ट की आशंका है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। घर में अतिथियों का आगमन होगा। उत्साहवर्धक सूचना प्राप्त होगी। लेन-देन में जल्दबाजी न करें।


मकर---- जीवनसाथी के बारे में चिंता रहेगी। किसी लंबी यात्रा की योजना बनेगी। आर्थिक उन्नति होगी। पूजा-पाठ में मन लगेगा। कानूनी अड़चन दूर होकर स्थिति अनुकूल होगी। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। विवेक से कार्य करें। कार्य में सफलता मिलेगी। विवाद से बचें।


कुंभ---- कुसंगति से बचें। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में विशेष सावधानी रखें। किसी भी तरह की बहस में हिस्सा न लें। भावना में बहकर महत्वपूर्ण निर्णय न लें। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। व्यापार-व्यवसाय अच्छा चलेगा। शत्रु शांत रहेंगे। नौकरी में कार्यभार रहेगा।


मीन--- स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। यात्रा मनोरंजक रहेगी। विद्यार्थी वर्ग अध्ययन आदि में सफलता प्राप्त करेगा। संगीत आदि में रुचि रहेगी। नौकरी में कोई नया कार्य करने से प्रभाव बढ़ेगा। कोई गलत निर्णय ले सकते हैं, सावधान रहें।


'तप'अध्यात्मवाद से,भौतिकवाद से?

संस्था और सन्न्यास 
लोगों की एक मूर्खता है । सन्यासी को देखते ही पूछते हैं कि 'तुम किस संस्था के हो' ? राम सुख दास 'गीता प्रेस' संस्था से जुड़े थे । उस संस्था ने उन के जरिये खूब आर्थिक लाभ कमया । रामसुख दास जीवन के अन्तिम चरण में गीता भवन ऋषिकेश में रहते थे । मैं भी उन दिनों ऋषिकेश में ही रहता था । एक दिन हमने सुना कि वे गीता भवन छोड़ के राजस्थान चले जायेंगे । कारण था कि गीताभवन के ट्रस्टियों ने उनके साथ कुछ धोखा किया था । हमने पता लगाया घटना सही थी । बाद में ट्रस्टियों ने उनकी बात को मजबूरन मान लिया तो वे नहीं गये । 
रामसुख दास के देहांत होनेपर गीताप्रेस वालों ने उनका जैसा अंतिम संस्कार किया खुद निर्मल अखाड़े के श्रीमहन्त ज्ञान देव ने वह देख कर हमारे पास दुःख व्यक्त करने लगे । विधिपूर्वक एक सन्त का जो अन्तिम क्रिया कर्म विहित है उसे भी गीताप्रेस वालों ने नहीं किया । रामसुख दास जी के साथ जितने सन्त रहते थे उन सबको बाद में क्रमशः अत्यन्त अपमानित ढंग से गीता भवन से बाहर निकाल दिया गया कुमारी-कंकण-न्याय से साधु को असंग और एकान्त में रहना चाहिये कोई भी धार्मिक संस्थान यथार्थ आध्यात्मिक तपोभूमि नहीं है । वह धर्म और अध्यात्म के नाम पर होनेवाले समस्त अपराधों का सुरक्षित स्थान है ।


अवधूत ज्ञानानन्द 


शिव स्त्रोत महिमा एवं कथा (कावड़-यात्रा विशेष)

इस स्तोत्र के निर्माण पर एक अत्यंत ही रोचक कथा प्रचलित है। एक समय की बात है जब चित्ररथ नामक शिवभक्त राजा हुए जिन्होंने अपने राज्य में कई प्रकार के पुष्पों का एक उद्यान बनवाया, वह शिवपूजन के लिये पुष्प वहीं से ले जाते थे। महान् शिवभक्त गंधर्व पुष्पदंत देवराज इंद्र की सभा के मुख्य गायक थे, एक दिन उनकी नजर उस सुंदर उद्यान पर पड़ी और वह मंत्रमुग्ध हो गए, उन्होंने उसी उद्यान से पुष्प तोड़े तथा प्रस्थान किया। मायावी गंधर्व पर किसी की नजर नहीं पड़ी पर जब राजा को इसका पता चला तो उसने चोर को पकड़ने के कई असफल प्रयास किए। राजा को एक तरकीब सूझी उसने शिव पर अर्पित पुष्प आदि उद्यान के पथ पर बिछा दिया। अगले दिन जब पुष्पदंत वहाँ आए तो उनकी नजर उन शिव निर्माल्य वस्तुओं पर नहीं पड़ी जिससे उनके पद ही उनपर पड़ गए। गंधर्वराज को शिव के क्रोध का भाजन करना पड़ा तथा उनकी सारी शक्तियाँ समाप्त हो गईं। जब उनको अपनी भूल का आभास हुआ तब उन्होंने एक शिवलिंग का निर्माण कर उसकी पूजा की तथा प्रार्थना के लिये कुछ छंद बोले, शिव प्रसन्न हुए, उनकी शक्तियाँ लौटा दी तथा यह आशीर्वाद दिया कि उनके द्वारा उच्चारित छंद समूह भविष्य में शिवमहिम्नस्तोत्र के नाम से प्रचलित होगा तथा उनके हृदय में स्थान प्राप्त करेगा और पुष्पदंत द्वारा बनाये स्वरित शिव स्त्रोत मे कुल 43 श्लोक हैं ! जिसमें  शिव की संपूर्ण महिमा का भक्ति भाव से बखान किया गया है! जो शिव को अति प्रिय भी है! स्त्रोत का निरंतर पाठन वाला आस्थावान व्यक्ति शिव के परम पद को प्राप्त होता है! यह शिव स्त्रोत की महिमा है! पुष्पदंत के द्वारा निर्मित शिवलिंग पुष्पदंतेश्वर महादेव के नाम से प्रसिद्ध होगा जिसके दर्शन मात्र से पाप कटेगा।


शक्ति स्वरूप है अष्टमी (अध्यात्म)

हिन्दुओं के शक्ति साम्प्रदाय में भगवती दुर्गा को ही दुनिया की पराशक्ति और सर्वोच्च देवता माना जाता है! शाक्त-साम्प्रदाय ईश्वर को देवी के रूप में मानता है। वेदों में तो दुर्गा का व्यापाक उल्लेख है, किन्तु उपनिषद में देवी "उमा हैमवती" (उमा, हिमालय की पुत्री) का वर्णन है। पुराण में दुर्गा को आदिशक्ति माना गया है। दुर्गा असल में शिव की पत्नी आदिशक्ति का एक रूप हैं! शिव की उस पराशक्ति को प्रधान प्रकृति, गुणवती माया, बुद्धितत्व की जननी तथा विकाररहित बताया गया है। एकांकी (केंद्रित) होने पर भी वह माया शक्ति संयोगवश अनेक हो जाती है। उस आदि शक्ति देवी ने ही सावित्री(ब्रह्मा जी की पहली पत्नी), लक्ष्मी, और पार्वती(सती) के रूप में जन्म लिया और उसने ब्रह्मा, विष्णु और महेश से विवाह किया था। तीन रूप होकर भी दुर्गा (आदि शक्ति) एक ही है।


देवी दुर्गा के स्वयं कई रूप हैं (सावित्री, लक्ष्मी एव पार्वती से अलग)। मुख्य रूप उनका "गौरी" है, अर्थात शान्तमय, सुन्दर और गोरा रूप। उनका सबसे भयानक रूप "काली" है, अर्थात काला रूप। विभिन्न रूपों में दुर्गा भारत और नेपाल के कई मन्दिरों और तीर्थस्थानों में पूजी जाती हैं। कुछ दुर्गा मन्दिरों में पशुबलि भी चढ़ती है। भगवती दुर्गा की सवारी शेर है। आदि शक्ति का प्राकृटय अष्टमी को ही माना गया है, ऐसी मान्यता है! महागौरी-आदिशक्ति अपने संपूर्ण वैभव को गौरव के साथ अष्टमी के दिन सृष्टि रूप होकर इस संसार में पूर्ण रूप से प्रकट हो जाती है! उसके पश्चात नौ रूपों के अनुसार कार्य सिद्धि में लीन हो जाती है! परा शक्ति मां दुर्गा इस संसार में नारी रूप में प्रत्येक नारी में समाहित है! जिसका अनुसरण प्रत्येक नारी अपने स्वभाव और विवेक के अनुसार करती है! नारी के सभी रूपों में आदि शक्ति व्याप्त है,चाहे वह रूप चंडिका हो, काली का हो, अन्नपूर्णा का हो,स्कंदमाता का हो !लेकिन वेद-शास्त्र और उपनिषदों-पुराणों में अष्टमी के दिन को देवी से जोड़कर ही देखा जाता है! इसी कारण अष्टमी को दुर्गा अष्टमी कहा जाता है!


दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...