सोमवार, 23 मार्च 2020

वायरसः महामारी का बढ़ता प्रभाव

नई दिल्ली/लखनऊ। पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ के ट्वीट के बाद यूपी में सख्ती बरतीं जाएगी, विश्व में व्याप्त भयंकर रोग से ग्रस्त संपूर्ण पृथ्वी वासी भय से त्रस्त है। ऐसी स्थिति में सभी सरकार विवेक अनुरूप अपने राज्य अथवा क्षेत्रों के अनुसार नियंत्रण स्थिति बनाने के लिए अध्ययन कर रहे है। कई राज्यों में कई जन कल्याण कल्याण आर्थ कई योजनाएं नई लागू कर दी गई है कहीं राज्यों में अभी बैठक चल रही है।


कोरोना वायरस को लेकर यूपी के अपर मुख्य सचिव गृह और डीजीपी की महत्वपूर्ण बैठक हो रही है। लॉक डाउन पर सरकार करेगी पूरी सख्ती और एडवाइजरी को कड़ाई से लागू करेगी।


'प्रोटोकॉल' के विरुद्ध घूमता पाया गया

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, रिंकू सैनी रिपोर्टर


होम आइसोलेशन की अवधि व्यतीत किए बिना बाहर घूमता हुआ पाया गया सऊदी से आया युवक


हापुड। होम आइसोलेशन की अवधि व्यतीत किए बिना बाहर घूमता हुआ पाया गया सऊदी से आया युवक जिसकी शिकायत जिलाधिकारी हापुड को जनता ने की सतीश पुत्र देवीसरन निवासी ग्राम झडीना तहसील गढ़मुक्तेश्वर जिला हापुड़ 12 मार्च 2020 को सऊदी अरब से लौटा था, जिसे दिनांक 5-4-2020 तक सेल्फ होम आइसोलेशन में रहना था, परंतु इनके द्वारा आज सेल्फ होम आइसोलेशन का उल्लंघन करते हुए, ग्राम धनपुरा थाना सिंभावली जनपद हापुड़ में अपने रिश्तेदारों के यहां भ्रमण किया गया। प्राप्त सूचना के आधार पर तत्काल जिला प्रशासन की टीम ने संबंधित परिवार से संपर्क किया गया तथा इनको फोन करके वापस बुलाया गया। उपजिलाधिकारी गढ़मुक्तेश्वर द्वारा इनके घर पर नोटिस चस्पा की गई एवं संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 188 एवं एपीडेमिक डीजिज एक्ट 14-03-2020 की सुसंगत धारा के अंतर्गत कोतवाली गढ़मुक्तेश्वर में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराई गई। जिलाधिकारी हापुड द्वारा यह भी निर्देशित किया गया कि भविष्य में यदि कोई भी विदेश से लौटा हुआ व्यक्ति 14 दिन के होम आइसोलेशन की अवधि व्यतीत किए बिना बाहर घूमता हुआ पाया गया तो संबंधित उप जिलाधिकारी व पुलिस क्षेत्राधिकारी संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा-188 एवं एपीडेमिक डीजिज एक्ट 14-03-2020 के अंतर्गत प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने के साथ साथ संबंधित व्यक्ति के पासपोर्ट के निरस्तीकरण की कार्रवाई कराना सुनिश्चित करेंगे।


कालाबाजारीः नींद से जागा प्रशासन

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, रिंकू सैनी रिपोर्टर


जनपद में ना हो कालाबाजारी अधिकारी सतर्क 



हापुड। जिलाधिकारी हापुड़ के निर्देशों के क्रम में कोरोना वायरस को दृष्टिगत रखते हुए अधिकारियों द्वारा लोगों को कोरोना वायरस से लड़ने एवं सुरक्षा हेतु जागरूक किया जा रहा है। अदिति सिंह द्वारा दिए गए निर्देशों में कोरोना वायरस को दृष्टिगत रखते हुए जनपद स्तरीय अधिकारियों द्वारा लोगों को कोरोना वायरस से लड़ने एवं सुरक्षा हेतु जागरूक किया जा रहा है। इसी क्रम में जागरूक करते हुए खादय सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन  की टीम द्वारा किराना की दुकानों एवं गोदामों का निरीक्षण किया जा रहा है। जहां कोरोना वायरस से बचाव के उपाय बताए जा रहे हैं साथ ही किराना दुकानदारो किसी भी स्तर पर कालाबाजारी ना हो इसके लिए कठोर निर्देश भी दिए जा रहे हैं। उसके उपरांत टीम ने उप जिलाधिकारी हापुड़ के साथ जरोटी रोड हापुड पर स्थित आटा मिलों का  एवं  पक्के बाग मे स्थित दाल-चावलो  के गोदामों का तथा नवीन मंडी में सब्जियों का निरीक्षण किया। वायरस से बचाव के उपाय बताएं स्टॉक रजिस्टर चेक किए और कठोर निर्देश दिए कि किसी भी स्तर पर कालाबाजारी न होने पाए। इसी क्रम में अभिहित अधिकारी द्वारा खाद्य तेल पैकेजिंग करने वाले एवं आटा मिलो के मालिकों के साथ अलग - अलग जगह पर वार्ता की गई। उनको करोना वायरस के प्रति सचेत एवं जागरूक रहने के लिए कहा गया साथ ही कठोर निर्देश भी दिए गए कि किसी भी स्तर पर कोई भी कालाबाजारी न करे।


पंजीकृत श्रमिकों को मिलेगा लाभ

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, रिंकू सैनी रिपोर्टर


उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कार्मकार कल्याण बोर्ड के अंतर्गत पंजीकृत श्रमिकों को मिलेगी राहत


हापुड। मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश द्वारा कोरोना वायरस के बढ़ते प्रभाव के कारण आपदा राहत योजना उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कार्मकार कल्याण बोर्ड के अंतर्गत पंजीकृत श्रमिकों हेतु लागू किया जाना प्रस्तावित है। उत्तर प्रदेश भवन एवं अन्य सन्निर्माण कार्मकार कल्याण बोर्ड के अंतर्गत पंजीकृत समस्त निर्माण श्रमिकों के डाटा विवरण में बैंक विवरण खाता संख्या एवं आईएफएससी कोड सहित सर्वोच्च प्राथमिकता के आधार पर संकलित करते हुए पोर्टल पर शत-प्रतिशत अपडेट करने की कार्रवाई कार्यालय सहायक  श्रमायुक्त हापुड में युद्ध स्तर पर की जा रही है। अतः इस संबंध में जनपद हापुड़ में सभी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों से एवं सभी निर्माण कार्य में संलग्न प्रतिष्ठानों से (बिल्डरों एवं ठेकेदारों) आदि से अपील है कि उनके अधीन कार्यरत पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के श्रमिक पहचान पत्र की प्रति एवं चालू बैंक खाते के विवरण खाता संख्या एवं आईएफएससी कोड सहित तथा आधार कार्ड संकलित करते हुए कार्यालय सहायक श्रमायुक्त हापुड की ईमेल आईडी alc11hapur@ gmail.com पर एवं व्हाट्सएप नंबर 9634475499 पर प्रेषित करें ताकि उसे संबंधित वेबसाइट पर अपडेट करते हुए आगे की कार्रवाई की जा सकें। कोरोना वायरस को देखते हुए जनपद में बंद शैक्षिक संस्थानों, मॉल, मल्टीप्लेक्स, जिम, तरणताल रेस्टोरेंट आदि के कारण प्रभावित श्रमिकों/ कार्मिकों के हित के दृष्टिगत  बंद  इकाइयों के स्वामियों/ नियोजको को निर्देशित किया जाता है कि प्रभावित श्रमिकों/ कार्मिकों को इकाइयों की बंदी अवधि में सभुगतान अवकाश प्रदान किया जाए। यह जानकारी सुभाष चंद्र यादव सहायक श्रम आयुक्त द्वारा दी गई है।


तीर्थ-स्थल पर बम मिलने से हड़कंप

राणा ओबराय, सुरेश राणा


पेहवा सरस्वती तीर्थ स्थल पर बम मिलने की खबर से हड़कंप

पेहवा। हरियाणा के मुख्य तीर्थ स्थल पेहवा में बम मिलने की सूचना मिली है। मिली जानकारी के अनुसार तीर्थ स्थल पर सफाई के दौरान मिट्टि के ढ़ेर में रखा बम मिला है। जिसकी सूचना पुलिस को दी गयी है।इस बम को कुरूक्षेत्र रोड पर नगर पालिका के खाली जमीन पर रख दिया है। ये एक तोप का गोला है जो बहुत ही पुराना है और इसका वजन 10 से 12 किलो के करीब है। परन्तु अभी तक बम निरोधक दस्ता मोके पर नही पहुचा है।


व्यवस्था के लिए उच्च स्तरीय बैठक

कोरोना संक्रमण पर शहर व्यवस्था के लिए उच्च स्तरीय बैठक


नगर विधायक शैलेश पांडे, कलेक्टर डॉ संजय अलंग ,पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल, जिला पंचायत सीईओ रितेश अग्रवाल और नगर निगम कमिश्नर प्रभाकर पांडे बैठक में हुए शामिल


बिलासपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण के रोकथाम पर एक दिवसीय राष्ट्रव्यापी जनता कर्फ्यू के बाद प्रदेश में 144 धारा लगाई गई है। इसके संक्रमण को रोकने, आम जनता और वस्तुओं और सेवाओं की सुविधाओं के संबंध में स्पष्ट दिशा निर्देश और कानून के दायरे में शहर में व्यवस्था बनाए रखने के लिए आज उच्च स्तरीय बैठक आयोजित की गई । जिसमें नगर विधायक शैलेश पांडे ने कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक, नगर निगम कमिश्नर, और जिला पंचायत सीईओ के सामने जनता की सुविधा, व्यवस्था और बंद के दौरान मिलने वाली सेवाओं के संदर्भ में अनेक बातें रखी।


इन विषयों को गंभीरता से लेते हुए इस पर जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन, नगर निगम और जिला पंचायत द्वारा जल्द ही व्यवस्था दुरुस्त करने कहा गया है। इस संबंध में जानकारी देते हुए नगर विधायक शैलेश पांडे ने कहा कि एक दिवसीय जनता कर्फ्यू में देश भर के लोगों का समर्थन मिला और लोग इस गंभीर समस्या से लड़ने के लिए तैयार नजर आए।  सभी ने अपने घरों में रहकर कोरोना से लड़ने का संदेश दिया है , लेकिन आज दूसरे दिन इस संक्रमण को लेकर लोगों में गंभीरता थोड़ी कम दिखाई दी है। इस बात के लिए जिला प्रशासनऔर पुलिस प्रशासन सहित सभी को गंभीर होने की जरूरत है। शहर के कई स्थानों में लोग घूमते और अन्य व्यवहार करते नजर आए इस पर जानकारी मिली और देखा गया है  कि आम जनता के पास बंद को लेकर स्पष्ट निर्देश नहीं हैं। खासकर सुविधाओं और सेवाओं के बाजार मैं दुकानदारों और आम जनता में इस बात की दुविधा बनी हुई है , कि कौन सी दुकानें खुली रहेंगी और कौन सी दुकानें बंद रहेंगी। इसी तरह सेवाओं को लेकर भी अभी स्पष्ट दिशा-निर्देश और जानकारी नहीं होने के कारण लोग अपने अनुसार कार्य करते नजर आ रहे हैं। जोकि एक तरह से गंभीर समस्या का रूप ले सकती है। बैठक में हमने कहा है , कि आम जनता को कर्फ्यू के संबंध में स्पष्ट दिशा निर्देश दिए जाएं, कि वह क्या कार्य कर सकते हैं, और क्या नहीं। इसी तरह सभी व्यापारी, पेट्रोल पंप संचालक ,मेडिकल स्टोर संचालक उद्योगपति, सभी निजी संस्थान सहित अनेक क्षेत्रों को भी स्पष्ट निर्देश होना चाहिए कि कौन सी दुकान खुलेगी और कौन सी दुकानें बंद रहेंगी।  यदि इन दुकानों और उद्योगों को खोलने और बंद करने की सीमा तय की जानी चाहिए तो वह भी स्पष्ट हो। उसके लिए स्पष्ट रूप से  सूची जारी किए जाने की आवश्यकता है। श्री पांडे ने बताया कि बाजार में सैनिटाइजर और साबुन के व्यवस्था की जरूरत है। किराना दुकान और सरकारी दुकानों में यह कम से कम दाम पर उपलब्ध हो और यदि यह नि:शुल्क व्यवस्था कराई जाए तो और बेहतर होगा। प्रशासन को यह सुनिश्चित करने के लिए भी कहा गया है। महत्वपूर्ण बात यह भी है कि कुछ लोगों को रहने और खाने की भी दिक्कतें सामने आई हैं , इस पर उद्योगपतियों से भी कहा जाएगा कि वे रेडक्रॉस या अन्य एनजीओ के माध्यम से आर्थिक मदद करें। जिससे कि उन लोगों को नियम के तहत कानून के दायरे में भोजन व्यवस्था कराई जाए और लोगों को नि:शुल्क दवाएं भी दी जा सके। शैलेश पांडे ने यह भी बताया कि जो मजदूर बाहर से आ गए हैं, जिसे तिहारी मजदूर भी कहा जाता है। ऐसे लोगों की मजदूरी और उनकी प्रतिदिन की आय सुनिश्चित करना भी जरूरी है। इसके लिए मनरेगा के तहत उन्हें काम देने की जरूरत है। श्री पांडे ने बताया कि सभी लोगों को घर में रहने की समझाइश देने और संक्रमण के बारे में जानकारी देने के लिए स्वच्छ भारत वाले वाहन पर मुनादी कराने का भी फैसला लिया गया है। जिसके आदेश जल्द ही जारी किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि निजी और सरकारी क्षेत्र में जो नर्स से और वार्ड बॉय सहित हमारे मेहनती और जांबाज चिकित्सा साथी काम कर रहे हैं , उन्हें कोई मकान मालिक या अन्य कोई व्यक्ति अपने मकान से ना हटाए उन्हें सम्मान मिले और सुविधा मिले,  इस बात के लिए के लिए भी आदेश से जारी किया जाएगा। शैलेश पांडे ने कहा कि  हमारा बिलासपुर पूरी तरीके से सुरक्षित है।  बस हमें जरूरत है, तो सतर्क रहकर अपने आप को बचाए रखने की।  इसके लिए जिला प्रशासन पूरी तरीके से मुस्तैद है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग विभाग के सभी लोग तैयार हैं। उन्होंने जनता से अपील की है कि घर पर रहकर ही कार्य करें और अपने साथ समाज को भी सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी निभाए।


बुरी खबर 'समसामयिक कृति'

'बुरी खबर' 
बुरी खबर आई है, दुनिया के कोना-कोना से।
नए खौफ का मंजर है, वायरस कोरोना से।


मिलना-जुलना ना पसंद करो,
खिड़की-दरवाजा सब बंद करो,
डॉक्टरों का फरमान है ये,
तुम भी आवाज बुलंद करो,
हिफाजत से ही जीत मिलेगी,
ना जादू ना टोना से..... 
नये खौफ का मंजर है वायरस कोरोना से


मुंह को ढक लो तुम मास्क ओढ़कर,
हाथ रखो सैनिटाइजर से धोकर,
गले मिलने में खतरा है ज्यादा , अब करो 'नमस्ते' हाथ जोड़कर,
दूर ही रहना, किसी के चादर-बिछौने से.....


नए खौफ का मंजर है, वायरस कोरोना से


'सिराज' मोहम्मद सिराज


सख्ती या बेफिक्री ? 'संपादकीय'

मधुकर कहिन
कॅरोना वायरस की गंभीरता समझाने हेतु कहीं सरकार को न लगाना पड़े कर्फ्यू
प्रशासन की सख्ती के बावजूद बेफिक्र घूम रहे हैं अजमेर वासी


जनता कर्फ्यू खत्म होते ही , अजमेर के लोग इतनी बेफिक्री से सड़कों पर घुमाई घूमते हुए दिखाई दे रहे है जैसे कि कोई कैदी सालों बाद जेल से छूटा हो।


लोगों को लगता है कि उनके थाली और ताली बजाने और शोर मचाने से कॅरोना वायरस मैदान छोड़ कर भाग गया हैं।आज सुबह कुछ समझदार लोग ट्रॉम्बे स्टेशन के पास अपने दोस्तों की भीड़ इकट्ठी करके काढ़ा वितरण करने लगे । ताकि कॅरोना का इलाज कर सकें। इन नेतागिरी के रोगियों को शायद यह मालूम नहीं है कि - करोना का इलाज काढ़े से करने के चक्कर में कहीं इनको गंभीर इलाज की ज़रूरत न पड़ जाए क्योंकि कॅरोना ऐसे ज्यादा समझदारों का इलाज करने में पूरी तरह से सक्षम है। ऐसे नेतागिरी पसंद समाज सेवाको कि बेवकूफ की वजह से जो माहौल उत्पन्न हो रहा है वह माहौल खुद ही किसी आपातकालीन स्थिति से कम नहीं है। उस पर हिंदुस्तान जिंक का भीलवाड़ा यूनिट रोज तकरीबन 400 मजदूरों को अजमेर से गाड़ी लगाकर भीलवाड़ा ले जाता है। और शाम को भीलवाड़ा से उठाकर वापस अजमेर में छोड़ देता है। जिनमें से 400 नहीं तो दो या चार लोग तो संक्रमण लेकर आते ही होंगे। और अड़ोस पड़ोस में एक आद लोगों को टच कर लेते होंगे। परंतु अभी तक प्रशासन को शायद इसका ज्ञान नहीं है। लगता है अजमेर वासियों को अभी तक लॉक डाउन का मतलब पूरी तरह समझ में नहीं आ रहा है। वैसे भी यहाँ के नेतागिरी पसंद ननगरिकों को  इतनी आसानी से बातें समझ में कहाँ आती हैं। सो अजमेर के भोले भाले समाजसेवी जीवो को मैं बता देता हूँ कि भाई !!! लॉक डाउन ऐसी आपात परिस्थिति में एक अहसान है !!!  जो सरकार ने आप लोगों पर किया है।सरकार चाहती तो जबरन कर्फ्यू भी लगा सकती थी। ताकि आप लोग इस गंभीरता को समझ सकें और पांव बांधकर शांति से घर बैठे रहें। लेकिन सरकार ने फिर भी ऐसा नहीं किया। और ज़रा नरमी बरतते हुए जनता से उम्मीद की है कि शायद वह इस आपातकालीन स्थिति को समझ सके। और खुद ही सहयोग करें । ताकि लाखों लोगों की जान बचाई जा सके। लेकिन आज सुबह बाज़ारों का दृश्य देख कर ऐसा लगता है की अजमेर वासियों को अब तक बात समझ नहीं आयी है। शायद सरकार द्वारा बखशी गयी इज्जत रास नहीं आ रही है। लो एक कोशिश मैं भी मेरी तरह से कर ही लेता हूं। तो भाई लोगों !!! आज 400 के करीब जो कॅरोना वायरस के संक्रमण का आंकड़ा पूरे देश में है , लगभग यही 400 के आसपास का आंकड़ा 1 महीने पहले इटली का था । और तब भी इटली वासियों ने बिल्कुल आप लोगों की तरह इसे गंभीरता से नहीं लिया। और बिल्कुल ऐसा ही माहौल था वहां पर भी , जैसा आज हमारे यहां चल रहा है। यदि हम इस वक्त गंभीर होकर जिम्मेदारी से कॅरोना वायरस के खिलाफ इस लड़ाई में सरकार और प्रशासन का साथ नहीं देंगे ... तो वह दिन दूर नहीं है कि भारत का भी हाल इटली जैसा हो जाएगा। जहां सेना बॉर्डर पर जंग लड़ रहे सिपाहियों की नहीं ,अपितु अपने ही देश के नागरिकों के शव उठाने के लिए लगी हुई है। खैर !!! अजमेर वासियों का क्या है ??? अजमेरवासी तो अजमेर वासी हैं ...  इन लोगों की हरकतों के पीछे पहले भी कई वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी खामयाजा भुगत चुके हैं।
फिर भी ... जिस तरह की खबरें राष्ट्र चैनलों पर अन्य जगहों की भी आ रही है। उन के मद्देनजर देखा जाए तो राजस्थान सरकार को भी अनिवार्य रूप से 31 तारीख तक सख्ती से कर्फ्यू लागू कर देना चाहिए। अन्यथा इतनी बड़ी जनसंख्या के लोगों को सद्भावना से समझाने में यदि, यह कीमती समय निकल गया तो फिर कॅरोना की मार से बचना प्रदेश में मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जाएगा। अल्पकाल के लिए ही सही, पर पूरे प्रदेश में एक बार झटके से कर्फ्यू लगाना आम लोगों को कॅरोना वायरस के खतरे से मुकाबले के लिए गंभीर रूप से तैयार करने हेतु बहुत आवश्यक नज़र आता है । बल्कि मैं तो यह कहूँगा की यह आवश्यक ही नहीं अनिवार्य नज़र आता है।


 फिर भी उम्मीद करूंगा कि अजमेर की जनता कम से कम समझदारी बरतते हुए ऐसी स्थिति ना आने दे ।और पूरे प्रदेश में ही नहीं पूरे देश में अनुशासित और सभ्य नागरिकता का उदाहरण प्रस्तुत करें।


नरेश राघानी


शहीद दिवस पर 'शहीदों' को नमन

राष्ट्रीय सनातन महासभा ने शहीद दिवस के रूप में सरदार भगत सिंह राजगुरु और सुखदेव को किया याद


सन्दीप मिश्रा


रायबरेली। राष्ट्रीय सनातन महासभा ने नेहरू नगर रायबरेली में 23 मार्च को शहीद दिवस के रूप में सरदार भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को याद किया। देश पर जान कुर्बान करने वाले अमर क्रांतिकारियों को शत-शत प्रणाम किया। इस अवसर पर राष्ट्रीय सनातन महासभा की कार्यकर्ताओं ने सरदार भगत सिंह की शहादत पर पार्टी कार्यालय में एक बैठक का आयोजन किया। इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय सचिव ज्ञान प्रकाश तिवारी एवं पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं ने भारत के सच्चे सपूत सरदार भगत सिंह को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की इस अवसर पर उन्होंने कहा कि लोकतंत्र बहुत अच्छी चीज है लेकिन दुर्भाग्यवश हमारे देश में लोकतंत्र के नाम पर दानव तंत्र चल रहा है यानी कि डेमोक्रेसी के नाम पर डेमनो क्रेशी रही है उन्होंने कहा कि आज देश को सरदार भगत सिंह जैसे महान भारत माता के सच्चे सपूत की जरूरत है जो इस दान व तंत्र को उखाड़ फेंके उन्होंने देश के सभी सम्मानित लोगों से अपील की। हमें इन महान क्रांतिकारियों के सपनों को साकार करने के लिए देश को विश्व गुरु बनाने के लिए हम सब को आगे आना होगा भारत विकसित देशों की श्रेणी में आ सके उन्होंने कहा कि सरदार भगत सिंह के बताए हुए आदर्शों पर चल कर ही हम देश को उन्नति पर ले जा सकेंगे आज हर एक युवा को सरदार भगत सिंह बनना होगा। तभी देश से आतंकवाद खत्म होगा।
इस अवसर पर उन्होंने कहा कि आज की राजनीतिक पार्टियां केवल जातिके नाम पर राजनीति करती हैं जबकि हम सबको एक होकर इन राजनेताओं को सबक सिखाना होगा जो लोग धन् ब बल द्वारा गुमराहकरते हैं इन सब से बचना होगा। इस अवसर पर प्रदेश सचिव चंदन सिंह जिला अध्यक्ष शिवम त्रिवेदी, जिला उपाध्यक्ष गीतेश दीक्षित, ललित त्रिवेदी, कमलेश, रमेश, दिनेश, अनुराग द्विवेदी, हरिशंकर, विजय कुमार, गिरीश कुमार, शिव शंकर, विष्णु शंकर आदि तमाम कार्यकर्ता और समाजसेवी उपस्थित थे।


400 संदिग्धों की जांच, सभी नेगेटिव

सन्दीप मिश्रा


रायबरेली। कोरोना वायरस को लेकर वैसे तो ज्यादातर ट्रेनें रद्द रही लेकिन जो आई उनके यात्रियों पर स्वास्थ्य महकमे की कड़ी नजर रही। रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से उतरते ही 30 संदिग्ध यात्रियों को स्टेशन से सीधे जिला अस्पताल भेजे गये।


जहां उनका परीक्षण के बाद परिणाम सकारात्मक आने पर सभी को छुट्टी देकर घर भेज दिया गया। जनता कर्फ्यू के मद्देनजर रेलवे ने भी अपनी अधिकतर सेवाये बन्द रखी। रविवार को सिर्फ 3 ट्रेन जनपद से गुजरी। जिनमे अमृतसर हावड़ा से चलने वाली पंजाब मेल ,मुंबई से आने वाली साकेत एक्सप्रेस ,शामिल थी। जिनमें लगभग चार सौ यात्री उतरे थे। लेकिन स्वास्थ विभाग की टीम पहले से ही तैयार थी। डॉ ऋषि बागची की अगुवाई में सभी यात्रियों का तापमान नापा गया। इनमें 30 यात्रियों का तापमान अधिक मिला। उन्होंने अलग करके अस्पताल पहुंचाया गया। जहां पर सभी का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। जिनमें सभी स्वस्थ मिले इसके बाद सभी की छुट्टी करके घर भेज दिया गया।


शामली में मिला संदिग्ध, जांच को भेजा

भानु प्रताप  उपाध्याय


शामली। बेंगलुरु से लौटे युवक को कोरोना का संदिग्ध मरीज होने की सूचना पर पुलिस द्वारा सीएचसी पर जांच के लिए लाया गया।


कैराना के मोहल्ला गुंबद निवासी एक युुुवक बेंगलुरु में रहकर हेयर सैलून का काम करता था। रविवार देर रात में बेंगलुरु से अपने घर वापस लौटा। सुबह मोहल्ले वासियों ने पुलिस को युवक के कोरोना के संदिग्ध मरीज होने की सूचना दी जिस पर पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचकर युवक को जांच के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लाया गया। युवक को फिलहाल कोरोना के कोई लक्षण नहीं बताए जा रहे हैं। फिर भी उसे हिदायत दी गई है।


वित्त विधेयक, बिना चर्चा के पारित

नई दिल्ली। वित्त विधेयक, 2020 आज लोकसभा में बिना चर्चा के पारित हो गया। इसके साथ ही वित्त वर्ष 2020-21 के बजट को सदन की मंजूरी मिल गई। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदन की कार्यवाही दोपहर बाद दो बजे शुरू होने के बाद सबसे पहले जरूरी कागजात सभा पटल पर रखवाए।


इसके बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त विधेयक, 2020 को विचारार्थ सदन के समक्ष रखा। संसदीय कार्य राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि सभी दलों के नेताओं के साथ आज सुबह हुई बैठक में यह सहमति बनी थी कि “असाधारण परिस्थितियों” को देखते हुए वित्त विधेयक को बिना चर्चा के पारित किया जाएगा। बजट के दिन एक फरवरी को वित्त विधेयक में सरकार ने 43 संशोधन किए थे। इसमें तीन खंड (पार्ट 4 ए, पार्ट 6 और पार्ट 7) जोड़े हैं। साथ ही छह नए क्लॉज और दो नए सेक्शन भी विधेयक में जोड़े गए। सदन ने मूल विधेयक में शामिल सेक्शन 144 को सत्ता पक्ष के सदस्यों की जोरदार न के कारण ध्वनिमत से खारिज कर दिया। सरकार की ओर से पेश सभी 43 संशोधनों को सदन की मंजूरी मिल गई, जबकि विपक्ष के सभी संशोधनों को खारिज कर दिया गया। सरकार ने अगले वित्त वर्ष के लिए कुल 30.42 लाख करोड़ रुपये का बजट पेश किया था। आम बजट पर 11 घंटे 51 मिनट चर्चा हुई। रेल मंत्रालय से संबद्ध अनुदान मांगों पर 12 घंटे 31 मिनट, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की अनुदान मांगों पर पांच घंटे 21 मिनट और पर्यटन मंत्रालय की अनुदान मांगों पर चार घंटे एक मिनट चर्चा हुई। अन्य मंत्रालयों की अनुदान मांगों तथा सभी अनुदान मांगों से संबंधित विनियोग विधेयकों को 16 मार्च को गिलोटीन के जरिए मंजूरी प्रदान की गई थी।


छोटे की हत्या कर शव नाले में दफन

शिमला। हमीरपुर जिले के सुजानपुर तहसील की पनोह पंचायत के भेटेर गांव में बड़े ने छोटे भाई को मार कर नाले में दफना दिया। पुलिस ने  हत्यारे बड़े भाई को गिरफ्तार कर लिया है जबकि छोटे भाई की लाश को नाले से बरामद कर लिया गया है। शव को पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल कालेज भेजा गया है। डीएसपी रेनू शर्मा  ने बताया कि  गणेश कुमार आयु 13 वर्ष कक्षा नवमी का छात्र था। अपने बड़े भाई टेक बहादुर और पिता जंग बहादुर के साथ किराए के मकान में बीते 8 वर्षों से भटेर में रह रहे थे। जंग बहादुर दिहाड़ी मजदूरी का कार्य करता है। सोमवार को वे काम पर गए तो उसके बाद दोनों भाई घर पर अकेले रह गए। दोनों में किसी बात पर कहासुनी हो गई। इस दौरान गणेश के बड़े भाई टेक बहादुर पुत्र जंग बहादुर ने गणेश के गले पर तेजधार हथियार से वार कर दिया और उसे मौत के घाट उतार दिया।


आरोपी युवक ने मृतक अपने छोटे भाई को वहां से उठाया और घर के पास एक नाले के नीचे इसे वहां दफना दिया। पुलिस को सूचना मिलते ही घटनास्थल का दौरा किया गया। सुजानपुर थाना प्रभारी सुभाष शास्त्री के अगुवाई में पुलिस टीम ने कार्रवाई करते हुए आरोपी युवक को गिरफ्तार किया और नाले में उतर कर खुदाई करके शव भी बरामद किया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।


चिकित्सा उपकरणों का निर्यात निंदनीय

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सर्जिकल मास्क, वेंटिलेटर और अन्य उपकरणों के निर्यात की अनुमति देने के लिए सरकार की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने इसे एक सोची समझी साजिश करार दिया और सवाल किया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की सलाह के बावजूद यह कदम किसकी शह पर उठाया गया।


गांधी ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को संबोधित करते हुए ट्विट किया, “आदरणीय प्रधानमंत्री जी, डब्लूएचओ की वेंटिलेटर, सर्जिकल मास्क का पर्याप्त स्टॉक रखने की सलाह के विपरीत भारत सरकार ने 19 मार्च तक इन सभी चीजों के निर्यात की अनुमति क्यों दीं?” उन्होंने इस अनुमति को कोरोनो वायरस के मद्देनज़र एक आपराधिक साजिश बताया और सरकार से पूछा, “ये खिलवाड़ किन ताक़तों की शह पर हुआ? क्या यह आपराधिक साजिश नहीं है।” इससे पहले कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी ट्वीट कर सरकार के इस रवैये की आलोचना की और आरोप लगाया कि उसने 10 गुना ज्यादा दाम पर इस समान का निर्यात किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “डब्ल्यूएचओ ने वेंटिलेटर, सर्जिकल मास्क, सर्जिकल डिस्पोजेबल, कॉवेराल के निर्यात की भारत ने 19 मार्च तक 10 गुना मूल्य पर बेचने की अनुमति दी।” इसके साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार के उस आदेश को भी पोस्ट किया है जिसमें इन वस्तुओं के निर्यात की अनुमति दी गई है। भारत सरकार ने 19 मार्च तक इन सभी चीजों के निर्यात की अनुमति क्यों दीं?” उन्होंने इस अनुमति को कोरोनो वायरस के मद्देनज़र एक आपराधिक साजिश बताया और सरकार से पूछा, “ये खिलवाड़ किन ताक़तों की शह पर हुआ? क्या यह आपराधिक साजिश नहीं है।” इससे पहले कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी ट्वीट कर सरकार के इस रवैये की आलोचना की और आरोप लगाया कि उसने 10 गुना ज्यादा दाम पर इस समान का निर्यात किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “डब्ल्यूएचओ ने वेंटिलेटर, सर्जिकल मास्क, सर्जिकल डिस्पोजेबल, कॉवेराल के निर्यात की भारत ने 19 मार्च तक 10 गुना मूल्य पर बेचने की अनुमति दी।” इसके साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार के उस आदेश को भी पोस्ट किया है जिसमें इन वस्तुओं के निर्यात की अनुमति दी गई है।


अमेरिकाः 24 घंटे, 100 से ज्यादा मौत

वॉशिंगटन। दुनिया का सबसे ताकतवर देश अमेरिका भी अब कोरोना की चपेट में आता नजर आ रहा है। पिछले 24 घंटे में यहां कोरोना वायरस से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। देश में इस बीमारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 417 हो गई है। जॉन हॉपकिन्स विश्वविद्यालय ने यह आंकड़ा जारी किया। अमेरिका में कम से कम 30,000 लोग इस विषाणु से संक्रमित हुए हैं। 
अमेरिका के उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने कहा है कि कुल 25०० अमेरिकी नागरिकों का कोरोना वायरस का टेस्ट कराया था जिसमें से 3०० से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। पेंस ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ पत्रकार वार्ता में कहा, हर दिन ज्यादा से ज्यादा लोगों का टेस्ट किया जा रहा है और अब तक 254000 लोगों का टेस्ट किया गया है जिसमें से 3०० से ज्यादा लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। संक्रमित होने वालों में अमेरिकन सीनेटर रैंड पॉल भी शामिल हो गए हैं। 


अब तक सबसे अधिक न्यूयॉर्क (114 मौतें), वॉशिंगटन (94 मौतें) और कैलीफोर्निया (28 मौतें) प्रांत प्रभावित हुए हैं। पेंस ने कहा कि जिन लोगों का टेस्ट किया जा गया है उनमें से अधिकांश लोग ऐसे हैं जिनमें इसके लक्षण थे और जो सोचते थे कि उन्हें कोरोना वायरस हो सकता है। कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच न्यूयॉर्क में आगामी कुछ दिनों में अस्पताल में मरीजों के उपचार के लिए आवश्यक उपकरणों की कमी होने की आशंका है।
न्यूयॉर्क के मेयर बिल डी ब्लासियो ने कहा कि अमेरिका में कोविड-19 के सबसे अधिक मामले न्यूयॉर्क में ही सामने आए हैं। डी ब्लासियो ने कहा कि यदि हमें आगामी 10 दिन में और वेंटिलेटर नहीं मिले तो लोग मारे जाएंगे।


पाकिस्तान में 6 की मौत, 803 संक्रमित

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में कोरोना वायरस की चपेट में आने वालों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। दक्षिणपूर्वी प्रांत बलूचिस्तान में सोमवार को कोरोना वायरस के कारण पहली मौत हो गई। इसी के साथ देश में कोविड-19 इन्फेक्शन से मरने वालों की संख्या 6 पहुंच गई अब तक तक देश में 803 लोग कोरोना के लिए पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। 
सरकार के प्रवक्ता लियाकत शाहवानी ने इस बारे में जानकारी दी है। उन्होंने बताया है कि च्ेटा के एक अस्पताल में 65 साल के शख्स का इलाज चल रहा था। उन्होंने बताया, च्ेटा के फातिमा जिन्नाह चेस्ट हॉस्पिटल में 65 साल के कोरोना मरीज की जान चली गई। बलूचिस्तान में पहले कोरोना मरीज की जान जाने से दुखी हूं। उनकी आत्मा को शांति मिले। परिवार के साथ संवेदना है।
बलूचिस्तान में अब तक कोरोना के 108 मामले सामने आ चुके हैं। बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री जाम कमाल खान का कहना है कि प्रांत में मेडिकल इच्पिमेंट, जैसे टेस्ट किट और प्रोटेक्टिव सामान की कमी है।


सिंध में कोरोना के 11 नए मरीज मिले हैं और अब यहां कोरोना पीडि़तों की संख्या 352 हो गई है। सिंध के 11 मामलों में से 7 राजधानी कराची के हैं। सिंध के बाहर सबसे खराब हालत पंजाब में है। यहां 225 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। खैबर पख्तूनख्वा में 31 और इस्लामाबाद में 11 मामले सामने आए हैं। सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली शाह ने 15 दिन का लॉकडाउन घोषित कर दिया है।


लॉकडाउन का सख्ती से पालन करें

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के मामले देश में लगातार बढ़ते जा रहे हैं। देश के दस से अधिक राज्यों में सरकार ने लॉकडाउन का ऐलान किया है, इसके बावजूद लोग लगातार घरों से बाहर निकल कर रहे हैं। अब इसपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सख्ती जताई है। पीएम ने लिखा है कि लोग लॉकडाउन का पालन नहीं कर रहे हैं, सरकारें कानून का पालन करवाएं।


लॉकडाउन की स्थिति पर प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा, लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आप को बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें. राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं। आपको बता दें कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान समेत देश के 10 से अधिक राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति है। लेकिन सोमवार सुबह जो स्थिति दिखी उसमें कई जगह लोग सड़कों पर दिखे. दिल्ली-नोएडा एक्सप्रेस-वे पर तो सोमवार सुबह ही जाम लग गया था, इसी के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ट्वीट सामने आया है। जनता कर्फ्यू में भी कुछ जगह सामने आई थी भीड़ः लॉकडाउन से पहले रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था, उसमें भी कई लोग सड़कों पर नज़र आए थे। शाम 5 बजे जब डॉक्टरों-मीडियाकर्मियों-पुलिसकर्मियों का आभार व्यक्त करने के लिए जो थाली और ताली बजाई गई, उस दौरान कई शहरों में लोग सड़कों पर आए और रैली निकालकर तालियां बजाई। इसी के बाद लॉकडाउन को देश के अन्य राज्यों ने भी लागू कर दिया था। बता दें कि दिल्ली में भी कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन लगाया गया है, साथ ही धारा 144 लगाई गई है ताकि एक जगह लोग इकट्ठे ना हो पाएं। अगर देश के मामलों की बात करें तो अभी तक भारत में कोरोना वायरस के 434 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं, जबकि देश में 9 लोगों की मौत इस वायरस की वजह से हुई है।


नाराजगीः अधिकारियों की क्लास लगाई

पटना। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए बिहार में लॉकडाउन लागू होने के बावजूद लापरवाही पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नाराज हो गए हैं। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन के बावजूद सड़क और बाजार में लोगों की मौजूदगी को लेकर अधिकारियों की क्लास लगाई है।


सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक मीडिया रिपोर्ट के जरिए नीतीश कुमार को जैसे ही इस बात की जानकारी मिली है कि लोग डाउन प्रभावी तरीके से लागू नहीं हो रहा है तो उन्होंने राज्य के बड़े अधिकारियों को तुरंत इस मामले पर एक्शन लेने को कहा है।


देश में 9 लोगों की मौत, 434 संक्रमित

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस से एक और शख्स की मौत हो गई है, पश्चिम बंगाल में 55 साल के एक शख्स की मौत हुई है, इस जानलेवा बीमारी से देश में अब तक 9 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, देश में कोरोना के मरीजों की संख्या 434 है।अकेले 24 घंटे में 50 से अधिक नए मरीज आए हैं और 4 मौतें हुई हैं, दिल्ली, राजस्थान, बिहार, पंजाब, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, झारखंड, जम्मू-कश्मीर, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश, नागालैंड, अरुणाचल प्रदेश में कोरोना वायरस की वजह से 31 मार्च तक लॉकडाउन है, इसके अलावा उत्तर प्रदेश के 16 जिलों को भी 25 मार्च तक लॉकडाउन किया गया है।


चिकित्सकों ने बताया है कि 13 मार्च से वह सर्दी, खांसी और बुखार जैसे लक्षणों से पीड़ित थे, 16 मार्च को उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी थे जिसके बाद आमरी अस्पताल में लाकर भर्ती किया गया था। 19 मार्च को उनके कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी।  बेलियाघाटा नाइसेड में उनके खून के नमूने की जांच हुई थी, जिसमें संक्रमण की पुष्टि होने के बाद उन्हें विशेष आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर इलाज शुरू कर दिया गया था। हालत गंभीर होने की वजह से उस शख्स को वेंटिलेशन पर रखा गया था। बताया गया है कि कोरोना की वजह से शरीर के अधिकतर अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। सोमवार दोपहर हृदयाघात के बाद उनकी मौत हो गयी। इसके बारे में राज्य स्वास्थ्य विभाग को जानकारी दे दी गयी है। बताया गया है कि अधेड़ के परिजनों को भी आइसोलेट कर एमआर बांगुर अस्पताल में रखकर इलाज किया जा रहा है। संक्रमित होने के बाद वह जिसके जिसके संपर्क में आये थे, उन्हें भी चिन्हित किया गया है और उन्हें अलग-अलग जगहों पर पृथक कर दिया गया है।


साहू आशीष


पड़ोसी देशों की मदद का शुक्रिया

नई दिल्ली। देश में कोरोना से हाहाकार मचा हुआ है। केंद्र व राज्य सरकारे कोरोना से लड़ने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इसी कड़ी में पड़ोसी देशों ने भारत की मदद के लिए हाथ बढ़ाया है। जिसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश, अफगानिस्तान और श्रीलंका के नेताओं का सार्क कोविड- 19 इमरजेंसी फंड के लिए शुक्रिया कहा है।


पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए अफगानिस्तान, बांग्लादेश और श्रीलंका को धन्यवाद दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने 1 मिलियन डॉलर के सहयोग के लिए अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी को शुक्रिया कहा। इसके अलावा पीएम मोदी ने श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे का भी 5 मिलियन डॉलर के योगदान के लिए आभार व्यक्त किया। पीएम मोदी ने कहा कि हमारे आपसी सहयोग से हम इस बीमारी प्रभावी ढंग से लड़ पाएंगे। बता दें कि पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को भी शुक्रिया कहा। उन्होंने कहा, COVID19 इमरजेंसी फंड में 1.5 मिलियन डॉलर के योगदान के लिए मैं प्रधानमंत्री शेख हसीना का आभारी हूं। हमारे एक साथ आने और साथ मिलकर काम करने से हम कोविड 19 से जुड़ी सभी चुनौती का सामना कर पाएंगे। वहीं दूसरी और प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि पीएम मोदी ने इलेक्ट्रानिक मीडिया के प्रमुखों से बातचीत की। पीएम ने कहा कि कोरोना वायरस एक आजीवन चुनौती है और इसे नए समाधानों से निपटने की जरूरत है। पीएम ने कहा कि पत्रकारों, कैमरापर्सन और टेकनीशियनों के अथक प्रयास राष्ट्र की महान सेवा है।


दिल्लीः 65 हजार करोड़ का बजट पेश

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में लॉकडाउन के बीच वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार को दिल्ली विधानसभा में आगामी वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 65 हजार करोड़ रुपये का बजट पेश किया। अपने बजट भाषण में राजधानीवासियों के लिए अनेक जनहित की योजनाओं का ऐलान किया। इसमें उनकी प्राथमिकता शिक्षा है। आगे जानिए दिल्ली सरकार के इस बजट में क्या-क्या खास हैं।


नए बजट में यह है खास बातेंः 2024 में दुनिया के एडुकेशन मैप पर हैप्पीनेस क्लास को लाएंगे।
देश भक्ति का पाठ्यक्रम लाएंगे। बड़ी क्लास के सभी बच्चो को अखबार देंगे।
इंग्लिश स्पीकिंग क्लास जारी रहेगी, इसके लिए 12 करोड़ प्रस्तावित।
इंफ्रास्ट्रक्चर में 15 नए स्कूल, डिजिटल क्लास रूम बनाएंगे।
100 करोड़ का खर्च, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एडुकेशन को लेकर। हेल्थ कार्ड जारी होगा। पैरेंट का वर्क शॉप किया जाएगा।
2034 कि दुनिया के लिए बच्चों को तैयार करेंगे।
सिलेबस में राज्य बोर्ड का गठन, अपना बोर्ड होगा।
अर्ली एजुकेशन के लिए कानून लाएंगे। 145 स्कूल ऑफ एक्सेलेंस खोले जाएंगे। आयुष्मान योजना लागू करेगी दिल्ली सरकाारः अलग बोर्ड बनाने को लेकर काम करेगी दिल्ली सरकार
बता दें कि हर बार की तरह इस बार भी मनीष सिसोदिया ने शिक्षा और चिकित्सा व्यवस्था पर जोर देते हुए इनमें और सुधार के लिए कई कदम उठाए जाने की बात कही है। वित्त मंत्री ने दिल्ली की शिक्षा व्यवस्था को अंतरराष्ट्रीय स्तर की बनाने पर जोर देते हुए इसके लिए कई नए काम शुरू किए जाने का भी विश्वास दिलाया। सबसे खास बात यह है कि नए वित्त वर्ष से दिल्ली सरकार केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना को दिल्ली में लागू करने की मंजूरी देने जा रही है। इसके साथ ही दिल्ली सरकार दिल्लीवासियों को अलग से हेल्थ कार्ड भी जारी करेगी। इसके साथ ही दिल्ली की कच्ची कॉलोनियों में अनेक विकास कार्यों को कराए जाने का प्रस्ताव पेश किया। उन्होंने प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए कई नए काम भी किए जाएंगे।


दहशतः 24 से एम्स में ओपीडी बंद

नई दिल्ली। कोरोना वायरस का कहर जारी है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार भारत में कोरोना वायरस (COVID-19) के पॉजिटिव मामलों की संख्या 415 हो गई है। वहीं इससे अभी तक 8 लोगों की मौत हुई है। वायरस के बढ़ते मरीजों और जांच के चलते दिल्ली में  अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में अब बाहरी मरीजों के लिए ओपीडी सेवा मंगलवार से बंद रहेगी। यह जानकारी एम्स द्वारा सोमवार को जारी एक सर्कलुर में दी गई है।


ओपीडी सेवाएं बंद होने से हजारों मरीजों को तगड़ा झटका लगा है। हांलाकि एम्स का कहना है कि कोरोना के खतरे को देखते हुए ओपीडी सेवा बंद करने का फैसला किया गया है। इससे पहले एम्स प्रशासन रुटीन सर्जरी को बंद कर दिया था। जिन मरीजों ने पहले से इलाज के लिए डॉक्टरों से समय लिया है, उन्हें भी मैसेज भेजकर अप्वाइंटमेंट रद कर उसे आगे बढ़ाने को कहा जा रहा है।


बता दें कि इससे पहले रांची के रिम्स व सदर अस्पताल के ओपीडी भी सोमवार से बंद किए जा चुके हैं। दोनों अस्पतालों में केवल कोरोना के संदिग्धों की जांच व उपचार के अलावा आपातकालीन चिकित्सा सेवाएं चालू रहेंगी। सिविल सर्जन डॉ वीबी प्रसाद ने कहा कि सामान्य ओपीडी बंद रहेगीं लेकिन हमारे सभी चिकित्सक इमरजेंसी सेवा में तैनात रहेंगे।


वहीं, रिम्स निदेशक डॉ. डीके सिंह, अधीक्षक डॉ. विवेक कश्यप ने विभागाध्यक्षों एवं जूनियर डॉक्टरों की राय पर ओपीडी बंद करने का निर्णय लिया है। इससे कोरोना के मरीजों को बेहतर उपचार व्यवस्था उपलब्ध कराई जा सकेगी। रिम्स में मरीजों व परिजनों की अनावश्यक भीड़ को भी कम किया जा सकेगा। इससे उसके फैलाव को रोका जा सकेगा। रिम्स के जूनियर डॉक्टरों ने शनिवार को रिम्स अधीक्षक से मिलकर सामान्य ओपीडी सेवा को बंद कर इमरजेंसी सेवा को दुरुस्त करने का आग्रह किया था।


धार्मिक स्थान पर जा छिपे लोग

पटना। बिहार की राजधानी से बड़ा मामला सामने आया है। यहां पटना में एक धार्मिक स्थल में कुछ विदेशियों को छिपाकर रखने की खबर मिल रही है। मामला पटना के भीड़भाड़ वाले कुर्जी इलाके का है। सोमवार सुबह पुलिस ने घटना की सूचना पर पहुंचकर छापा मारा है। जिसके बाद यहां गेट नंबर 74 के पास स्थित एक धार्मिक स्थल से 12 विदेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया है मामले में पूछताछ जारी है।


बताया जा रहा है कि पटना के बिहटा थाना क्षेत्र के एक धार्मिक स्थल में छिपे हुए 12 विदेशी नागरिकों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए लोगों में से दस लोग किर्गिस्तान के रहने वाले  हैं और बाकी दो लोग गाइड बताए जा रहे हैं। स्थानीय लोगों ने जब देखा तो हंगामा किया जिसके बाद पुलिस ने आकर सभी विदेशी नागरिकों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। लोगों ने संदिग्ध बताते हुए धार्मक स्थल को बंद करने की मांग की है।


पूछताछ में सामने आया है कि ये लोग जनवरी में पटना आए थे। इनके पास जो वीजा पासपोर्ट मिला है, वो पूरी तरह से सही है। इनको केवल मेडिकल जांच के लिए भेजा गया है।मेडिकल जांच के बाद पुलिस उन्हें छोड़ देगी। स्थानीय लोगों का आरोप है कि इनलोगों ने अपना मेडिकल जांच नहीं करवाया है। आसपास के मोहल्ले वालों ने इसका विरोध किया। हंगामा के बाद पुलिस मौके पर पहुंच गई। पुलिस ने अपने साथ 12 विदेशियों को अपने साथ ले गई।


 


 


जमीर से अच्छा, जिस्म का सौदा

अनिल अनूप


आपने सोचा है कि ऐसा भी हो सकता है कि कोई लड़की इस धंधे में किसी ज़ोर, ज़बरदस्ती से नहीं ना ही किसी मज़बूरी से बल्कि अपने महंगे मंहगे शौक पूरे करने के लिए आती है?
आज आपको ऐसी ही एक हाई प्रोफाइल कॉल गर्ल से हुई बातचीत के आधार पर बताते है कि आज वेश्यावृत्ति किस तरह आसानी से पैसा कमाने वाला एक ऐसा धंधा बन गया है जिसमे बहुत सी खुले विचारों की लड़कियां अपनी मर्ज़ी से आती है.
जहां इंटरव्यू होना था वह एक आलीशान कमरा था। फर्श पर बेहतरीन कार्पेट, दीवारों पर नायाब पेटिंग्स, छत पर टंगा भव्य झाड़फानूस और अनेक खूबसूरत लाइटें; साथ में भव्य सोफे और देवदार की कांच लगी नक्काशीदार दर्शनीय मेज। दीवार पर बनी लकड़ी की अल्मारियों में किताबें, शोपीस और खूबसूरत मूर्तियां।
जब अनीता जी इंटरव्यू के लिए आकर बैठी तो लगा कोई महारानी बैठी है। मैरून रंग की बेशकीमती सिल्क की साड़ी, मैचिंग स्लीवलेस ब्लाउज, गले में छोटा सा लेकिन रत्नजडि़त हार और एक हाथ में राडो की घड़ी तो दूसरे हाथ में सिर्फ एक हीरे का कंगन। तीखे नाक-नक्श और संतुलित मेकअप, करीने से कटे कंधों पर बिखरे घने बाल, व्यायाम से साधा हुआ सुगठित शरीर और साथ में इतनी गहरी मुस्कान कि पता लगाना मुश्किल, बनावटी है या असली।
देखिए जरा समय के पाबंद रहिए और समय से अपना इंटरव्यू खत्म कीजिए। मैं समय की भारतीय अवधारणा में विश्वास नहीं रखती, मेरे लिए एक-एक मिनट कीमती है। – अनीता जी ने घड़ी देखते हुए कहा। मुस्कराहट के साथ स्वर में ऐसी सख्ती दुर्लभ होती है।
मैंने पैड संभाला और मोबाइल का रिकाॅर्डर आॅन करके मेज पर रख दिया। मेज पर रखा काॅफी का कप उठा कर एक सिप लिया और पहला सवाल पूछा।
जी बिलकुल! तो मेरा पहला सवाल है कि आप इस प्रोफेशन में कैसे आयीं?
देखिए मेरा इस प्रोफेशन में आना कोई बड़ी घटना नहीं है। जब दुनिया मुद्रा, आई मीन करेंसी, के चारों ओर घूम रही है तो हर इंसान की ये मजबूरी है कि वह कोई ऐसा काम करे जिसके बदले में उसे पैसे मिलें वर्ना वो चाहे आईन्स्टीन हो या मोजार्ट उसे धकिया कर हाशिए पर फैंक दिया जाएगा। मुद्रा एक प्रतीक थी, सुविधा के लिए बनायी गयी थी। लेकिन प्रतीक की जगह वह खुद ही सब कुछ बन बैठी, जैसे आप अपने पिता की मूर्ति बना लें और उसे ही अपने बाप समझें। और पैसे मिलने का एक ही तरीका है कि हम अपना कुछ बेचें। जब हम बाजार में बेचने निकलते हैं तो ज्यादातर दुकानें कबाडि़यों की नजर आती है जो ’क्राइम एंड पनिशमेंट’ और ‘रंगीली रातों’ को एक ही भाव खरीदते हैं। ऐसे में फिर आपके पास यही रास्ता बचता है कि आप धूर्त हो जाएं और वो बेचें जो आपके पास है ही नहीं या किसी और का छीनें। इसलिए मुझे लगा अपना जमीर बेचने से अच्छा है कि हम अपना जिस्म बेचें। कम से कम अपने खुद के सामने तो नजर उठा कर बात कर सकेंगे। मैंने इस प्रोफेशन में आने का डिसीजन लिया और मुझे इस पर गर्व है।
आपको गर्व है?? आपको किसी तरह का शर्म का अहसास नहीं होता?
क्या बकवास कर रहे हैं आप? इसमें शर्म की क्या बात है? शर्म की बात तो तब होती जब मैं किसी सरकारी नौकरी में जाकर देश की बर्बादी में हाथ बंटाती या लुटेरे कारपोरेट के समूह में शामिल हो जाती। मल्टी नैशनल कंपनी में अपना दिमाग बेचकर जिंदगी होम करने वाले हाइली पेड बंधुआ मजदूरों से मैं लाख गुना बेहतर हूं। अपनी मर्जी से काम करती हूं, अपनी शर्तों पर काम करती हूं। किसी को धोखा नहीं देती। मैं एक एन्ट्रप्रेन्योर हूं, इसमें शर्म की नहीं गर्व की बात है। कानूनी काम करती हूं और पूरा टैक्स भरती हूं।
कानूनी?
जी हां कानूनी! अगर आपकों कानूनों की जानकारी नहीं है तो पहले थोड़ा पढ़ कर आएं फिर इस पर बात करेंगे।
अच्छा ये बताइए आपकी धर्म और ईश्वर के बारे में क्या धारणा है? आप किसे मानती हैं?
निहायत वाहियात सवाल है। इससे बेहतर सवाल होता कि आप ये पूछते कि मैं कौन-सा सेनेटरी नैपकिन या किस कंपनी की हेयर रिमूविंग क्रीम इस्तेमाल करती हूं। देखिए, धर्म एक नितांत व्यक्तिगत चीज है और उसका कोई छोटे-से-छोटा भाग भी प्रकट हो रहा है तो वह अश्लीलता है।
आपने कभी शादी, परिवार के बारे में सोचा है?
जी हां कई बार सोचा है लेकिन हर बार मन नकारात्मक भावों से भर गया है। देखिए जिस ढंग से हमारे यहां शादियां होती हैं वो बड़ा घिनौना है। जाति, धर्म, लालच और अन्याय उसमें इस तरह भरा है कि किसी जागरुक व्यक्ति के लिए शादी करना आसान नहीं है। सामाजिक मान्यता प्राप्त और थोड़ी-बहुत सामाजिक सुरक्षा और पेंशन वगैरह की सुविधा प्राप्त वेश्याओं को पत्नी कहा जाता है। लेकिन उनके पास काॅल गल्र्स जैसे अधिकार नहीं होते। रही परिवार की बात, तो मेरा परिवार बहुत बड़ा है और उसमें ज्यादातर सदस्य जैनेटिक रूप से नहीं जुड़े हैं। जैनेटिक परिवार तो मजबूरी और स्वार्थ की डोर से बंधे होते हैं।
देश के हालात पर आपकी राय?
देखिए इस सवाल की इतनी बेइज्जती हो चुकी है कि मैं इसका जवाब नहीं देना चाहूंगी। हर आदमी चाहे वो कितना ही जाहिल और निकम्मा क्यों न हो इस सवाल का जवाब एक्सपर्ट की तरह देता है।
समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी के बारे में कुछ कहना चाहेंगी आप?
हमारे समाज के ऊपर दो सबसे बड़े घाव हैं – मौत और सेक्स। इन्हीं दो से भागता है और इन्हीं दोनों के फोबिया और मेनिया के बीच पेंडुलम की तरह झूलता रहता है। पूरी जिंदगी इन दो पाटों के बीच पिस कर रह गयी है। जो इलाज किए गए वो बीमारी से भी ज्यादा खतरनाक निकले। लोगों को नियंत्रित करने के लिए धर्म ने सेक्स का सहारा लिया और खाने, पीने, सोने जैसी साधारण और सहज चीज को टैबू करके उसे असाधारण ताकत दे दी और ‘फ्रैंकस्टीन’ बना दिया। नतीजा ये हुआ कि हमारी गालियों से लेकर विज्ञापनों या फिल्मों तक, मंदिरों से लेकर घरों तक हर चीज सेक्स से सन गयी। हमारी पूरी पीढ़ी ही इन्टरनेट के सामने बैठ गयी दूसरों को सेक्स करता हुआ देखने के लिए। उससे भी तृप्ति नहीं मिली तो आज वीभत्स से वीभत्स तरीके खोज रही है सेक्स के। इन्टरनेट के लिए सैक्स कर रही है! मौत के लिए तो मैं कुछ नहीं कर सकती लेकिन सेक्स को लेकर बने इस कैंसर के लिए मैं कुछ सकारात्मक करने की कोशिश करती हूं। एक हीलर की तरह काम करती हूं। कई लोगों को मैंने ठीक किया है। सीनियर सिटीजन्स और डिफरेन्टली एबल्ड लोगों के साथ भी मैंने कई बार बिना किसी फीस के काम किया है।
बलात्कार के मामलों पर आपका क्या कहना है?
ये सवाल भी अपनी गरिमा खो चुका है। सब के सब या तो बलात्कार कर रहे हैं या बलात्कार पर अपनी राय दे रहे हैं। एक बीमार समाज का सबसे खास लक्षण बलात्कार होता है। जब बीमारी है तो लक्षण भी रहेंगे। फिलहाल बीमारी को दूर करने की मंशा मुझे तो कहीं दिखती नहीं।
अच्छा इंटरव्यू के लिए आपका धन्यवाद। मेरा किसी से एपाॅइन्टमैंट है, मुझे अब जाना होगा। आप काॅफी और लेंगे? – अनीता जी घड़ी देखते हुए बोलीं।
नहीं काॅफी तो नहीं! लेकिन मैडम कुछ सवाल रह गए हैं।


झारखंड में बर्ड फ्लू ने दी दस्तक

विवेक चौबे


रांची। काेराेना वायरस के खतराें के बीच झारखंड में बर्ड फ्लू (एच5 एन1) ने भी दस्तक दे दी है। बर्ड फ्लू से ओरमांझी जू में पक्षियाें की माैत के बाद पशुपालन विभाग ने राज्य में अलर्ट जारी कर दिया है। सभी जिलाें काे बर्ड फ्लू पर निगरानी रखने, मुर्गियाें के आवागमन व बिक्री पर नजर रखने काे कहा है।


इसके लिए टीम भी बना दी है। जू के निदेशक वेंकटेश्वर ने बताया कि 23 फरवरी काे जू में दाे गरुड़, तीन उल्लू व दाे सफेद आइबीस पक्षी की माैत हाे गई थी। काेलकाता व भाेपाल भेजे गए सैंपल से हुई पुष्टि हुईः काेराेना व बर्ड फ्लू के सिर्फ लक्षण एक जैसेे, और काेई समानता नहीं। रिम्स के डाॅ. जेके मित्रा ने बताया कि बुखार, कफ, नाक बहना, सिर में दर्द, गले में सूजन, मांसपेशियाें में दर्द, उल्टी लगना, शरीर के निचले हिस्से में दर्द अाैर सांस में परेशानी बर्ड फ्लू के लक्षण हैं। बर्ड फ्लू अाैर काेराेना वायरस के लक्षण मिलते-जुलते हैं, लेकिन और काेई बायाेलाॅजिकल समानता नहीं है। रांची में इलाज उपलब्ध, दवा का पर्याप्त स्टॉकस्टॉकः के मुताबिक यहां बर्ड फ्लू के इलाज की व्यवस्था है। अस्पताल-दुकानों में दवा एंटीवायरल ड्रग ओसेल्टामिविर (टैमीफ्लू) व जानामिविर (रेलेएंजा) का पर्याप्त स्टॉक है।सावधानियां जरूरीः मरे हुए पक्षियों से दूर रहें,बर्ड फ्लू वाले क्षेत्र में नॉनवेज ना खाएं,जहां से नॉनवेज खरीदें, वहां सफाई का ध्यान रखें,कोशिश करें कि मास्क पहनकर बाहर निकलें,आसपास किसी पक्षी की मौत होती है तो इसकी सूचना संबंधित विभाग को दें।


आपात स्थिति मे छोड़े घरः सीएम

चंडीगढ़। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने पंजाब वासियों को स्वास्थ्य सुरक्षा के साथ जुड़े सभी कदम उठाने और खास तौर पर समय-समय पर हाथ धोने और आपात कार्य न होने की सूरत में अपना घर न छोड़ने की अपील की है। कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने लोगों को अपील करते हुए कहा, ‘घरों से बाहर न निकल कर इस वायरस के आगे फैलने को रोकने में मदद करें। उन्होंने कहा, बंद के समय के दौरान खाद्य, किराना और दवा आदि जैसी जरूरी वस्तु की दुकान को छोड़कर बाकी सभी कारोबार और दुकान बंद रहेंगी। इसी तरह जल सप्लाई, सेनिटेशन और बिजली जैसी सभी जरूरी सेवाएं भी बनी रहेंगी। सार्वजनिक यातायात पर लगाए हुए प्रतिबंध भी 31 मार्च तक जारी रहेंगे। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि जो नागरिक हाल ही में विदेश में आए हैं, उनको घर में अलग रहने की जरूरत है और यदि इस वायरस से किसी किस्म का लक्षण दिखाई दे तो तुरंत पास के सरकारी अस्पताल में रिपोर्ट किया जाए।


मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने कहा के राज्य स्तर पर कंट्रोल रूम स्थापित किया जा चुका हैं। इसी तरह सभी जिला मुख्यालायों में भी एसे कंट्रोल रूम स्थापित किए गए हैं। किसी किस्म की जरूरत के लिए अपेक्षित और तत्काल कदम उठाने का भरोसा देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के लोग 181 और 104 हैल्पलाइन नंबरों के द्वारा सरकार तक पहुंच कर सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कारोबारियों को भी अपील की कि न केवल जरूरी वस्तुओं की उचित सप्लाई को यकीनी बनाया जाए बल्कि किसी किस्म की कालाबजारी और मुनाफाखोरी का भी त्याग किया जाए। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार किसी को भी अपने निजी लाभ के लिए मौके का लाभ लेने की इजाजत नहीं देगी।


मुख्य सचिव करन अवतार सिंह ने स्पष्ट किया कि सार्वजनिक जगह पर 10 से अधिक व्यक्तियों के एकत्रित होने पर रोक होगी। डिप्टी कमीश्नरों को सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों का सख्ती के साथ पालन को यकीनी बनाने के लिए हिदायतें दी गई हैं। स्वास्थ्य विभाग ने स्पष्ट किया कि सभी व्यक्तियों को अपने घरों में रहना चाहिए और वह जरूरी सेवाओं/वस्तुओं या रोजगार/ड्युूटी के लिए अपना घर छोड़ सकते हैं।


देश हित में खत्म किया धरना-प्रदर्शन

घंटाघर की प्रदर्शनकारी महिलाओं ने कोरोना वायरस के मद्देनजर देश हित मे स्थगित किया धरना प्रदर्शन…


लखनऊ। सीएए एनपीआर और एनआरसी के खिलाफ जहां पूरे देश में लगातार महिलाओं का धरना प्रदर्शन चल रहा था वही उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी ऐतिहासिक घंटाघर पर पिछले 66 दिनों से उक्त कानून के खिलाफ लगातार महिलाओं का धरना प्रदर्शन जारी था, मगर दुनिया में फैले कोरोना वायरस जैसी भयानक बीमारी का अपने देश भारत में भी पैर पसारने के चलते 66 दिनों से प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने देश हित में और कोरोना वायरस जैसी बीमारी से लड़ने के लिए आज 67 वें दिन यानी 23 मार्च 2020 में धरने को स्थगित कर दिया है।


जैसा कि आप सभी जानते हैं कि नागरिकता संशोधन कानून एनपीआर और एनआरसी के विरोध में पूरे देश में लगातार प्रदर्शन जारी थे और शाहीन बाग में महिलाओं ने ऐसे बिल और कानून के खिलाफ जंग छेड़ी थी, वही लखनऊ के ऐतिहासिक घंटाघर पर भी महिलाओं ने उक्त कानून का पुरजोर विरोध किया जिसमें उन्हें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा, कभी पानी, खाना, दवाई जैसी कई तरह की सुविधाओं के भाव में भी धरने को लगातार जारी रखा और पुलिस प्रशासन की सख्ती को भी झेलना पड़ा। मगर अपने इरादों से मजबूत महिलाओं ने किसी भी तरह की परेशानियों से हार ना मानते हुए 66 दिनों तक लगातार प्रदर्शन जारी रखा, पुलिस ने कई बार बल का प्रयोग भी किया और कई तरह से धरने को खत्म करने की कोशिश में कई बार कड़े कदम उठाए और उक्त प्रदर्शन में पुलिस की बर्बरता भी सामने आई, फिर भी महिलाएं निडर और जान की परवाह किए बगैर धरने पर बैठी रही।


इस प्रदर्शन के बीच महिलाओं और उनके घर वालों झेलनी पड़ीं सैकड़ो परेशानियां…


लखनऊ का ऐतिहासिक घंटाघर भी महिलाओं के प्रदर्शन से एक बार फिर इतिहास में अपनी जगह बना गया। कड़कड़ाती ठंड, जबरदस्त बारिश और ओलावृष्टि के साथ ही भयंकर गर्मी की मार झेलने के बाद भी महिलाओं के हौसले नहीं टूटे थे, परंतु एक तरह की राष्ट्रीय आपदा कोरोना वायरस के रूप में भारत में प्रवेश कर गई जिसके चलते महिलाओं ने समझदारी और देशभक्ति का परिचय देते हुए लंबे समय से चल रहे इस धरना प्रदर्शन को स्थगित कर देशभक्ति का सबूत तो दिया ही साथ ही पुलिस कमिश्नर लखनऊ को पत्र लिखकर देश हित मे धरना स्थगित करने की बात कही और पुलिस कमिश्नर को लिखे पत्र के ज़रिए सरकार से यह भी कहा कि हम सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर इस भयानक बीमारी से लड़ने और देश को इस आपदा से बचाने के लिए साथ खड़े हैं।


 


सरकार और पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती था प्रदर्शन, मुकदमें और गिरफ्तारियां कर पुलिस ने निकाली थी खुन्नस…


यह धरना प्रदर्शन जहां एक तरफ सरकार और पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती बना हुआ था वही न जाने कितने बेकसूर लोगों के खिलाफ अनगिनत मुकदमे भी दर्ज हुए कितने लोगों को जेल की सलाखों के पीछे जाना पड़ा और इस धरने में 3 मासूम जाने भी गई जिसमें दो वृद्ध महिलाएं और एक जवान युवती ने अपने प्राणों की आहुति देकर यानि शहादत में अपना नाम लिखवा कर देश के भविष्य के लिए कुर्बानी दे दी। मगर सरकार का रवैया नहीं बदला और आखिर एक ऐसी आपदा पूरी दुनिया के कई देशों के साथ ही भारत में भी प्रवेश कर गई जिससे भयानक महामारी तक संभावित है, इसी के मद्देनजर महिलाओं ने धरने को समाप्त करने या स्थगित करने का देश हित में फैसला लिया और अपने अपने घर वापस लौट गई।


 


प्रदर्शन स्थगित होने पर सरकार और पुलिस प्रशासन ने ली राहत की सांस…


वही धरना खत्म होने पर पुलिस प्रशासन और सरकार ने राहत की सांस ली और पुलिस प्रशासन ने महिलाओं को सुरक्षित उनके घर पहुंचाया महिलाओं का कहना था की हम पहले भी देश के आने वाले भविष्य के लिए इस आंदोलन के जरिए लड़ रहे थे और अब कोरोना वायरस जैसी भयानक बीमारी और आपदा से लड़ने के लिए तैयार हैं और हर कदम पर सरकार के साथ हैं इस वक्त किसी भी तरह के कानून से ज्यादा जरूरी है कोरोना वायरस जैसे बीमारी से लड़ने की इसलिए हम अपनी स्वेच्छा से देश हित में इस धरने को स्थगित करते हैं। अगर सरकार ने CAA, NPR और NRC को वापस नहीं लिया तो हम इस कानून और सरकार के खिलाफ फिर से बड़ा आंदोलन और धरना प्रदर्शन शुरू कर देंगे।


जुनैद खान “पठान” की रिपोर्ट…


संकट की इस घड़ी में हम सब साथ

संकट की इस घड़ी में हम आपके साथ हैं!

कोटा। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राजस्थान के अंदर जब जब भी वह राज्य के मुख्यमंत्री रहे तब तब उन्होंने राज्य के एक जिम्मेदार व्यक्ति का जो फर्ज होना चाहिए। वह फर्ज मुस्तैदी के साथ निभाया, चाहे वह प्राकृतिक आपदा से लड़ते हुए समस्या का समाधान करने का मामला हो या फिर कोरोना जेसी घातक बीमारी से प्रदेश की जनता को बचाने का मामला हो। अशोक गहलोत ने हमेशा संवेदन शीलता दिखाई है, गहलोत सरकार कोरोना को लेकर पहले दिन से ही इस समस्या के समाधान के लिए एक्टिव हो गई थी,  वैसे भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रदेश के अंदर बीमारी और बीमार मरीजों के लिए हमेशा संवेदनशील रहे हैं उनकी प्रदेशवासियों को " मुफ्त इलाज" की योजना देश और विदेश में चर्चित रही है आज भी प्रदेश की जनता उसका लाभ उठा रही है!
राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों ने अपना 1 दिन का वेतन कोरोना बीमारी से निपटने के लिए राज्य सरकार को देने की घोषणा की है राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों का यह कदम सराहनीय है!
क्या राजस्थान के 200 विधायक अपने विधायक कोष के पैसों मैं से एक बड़ी रकम अपने विधानसभा क्षेत्रों के अस्पतालों पर खर्च करेंगे करना चाहिए क्योंकि वैसे भी ज्यादातर विधायक विधायक कोष का पैसा पूरी तरह से खर्च नहीं कर नहीं कर पाते हैं यह अवसर है विधायक अपने अपने विधानसभा क्षेत्र के अस्पतालों मैं कोरोना से लड़ने के लिए उपकरण और अन्य सामग्री पहुंचाएं एक कदम जनता बढ़ा रही है दूसरा कदम सरकार एक कदम विधायक भी बढ़ाएं!
                   देवेंद्र यादव


शिवराज चौथी बार एमपी के सीएम

भोपाल। शिवराज सिंह चौहान मध्य प्रदेश के चौथे सीएम होंगे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक भाजपा आलाकमान ने उनके नाम पर मुहर लगा दी है। शिवराज सिंह आज शाम 7 बजे मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। शाम को बीजेपी विधायक दल की बैठक होने वाली है। इसमें उन्हें विधायक दल का नेता चुना जाएगा। इसके बाद राज्यपाल लालजी टंडन उन्हें राजभवन में ही मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाएंगे।


गौरतलब है कि सिंधिया खेमे के 22 विधायकों के इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस सरकार अल्पमत आ गई। इसके बाद कमलनाथ ने 20 मार्च को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।बाद में ये सभी बागी विधायक बीजेपी में शामिल हो गए। 6 महीने में कराना होगा उपचुनावः विधायकों की इस्तीफे के बाद सदन में कांग्रेस विधायकों संख्या घटकर 92 हो गई हैं। वहीं, बीजेपी के पास कुल 106 विधायक है। 230 सदस्यों वाली विधानसभा में बागी विधायकों के इस्तीफा और दो विधायकों की मौत के बाद कुल 24 सीट खाली हो गई हैं।  इन सीटों पर 6 महीने में चुनाव होने हैं। भाजपा नेताओं का कहना है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते राज्य के लिए स्थाई सरकार की जरूरत है। इसलिए भाजपा ने शाम 6 बजे विधायक दल की बैठक बुलाई है।सभी विधायकों को अकेले पार्टी दफ्तर आने के लिए कहा गया है। पार्टी हाईकमान द्वारा नियुक्त पर्यवेक्षक दिल्ली से वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए विधायकों से संवाद करेंगे। उसके बाद ही नए नेता के नाम का ऐलान होगा। तीन नामों की थी चर्चाः शिवराज सिंह चौहान 2005 से 2018 तक लगातार 13 साल मुख्यमंत्री रह चुके हैं। इस बार मध्यप्रदेश के इतिहास में पहला मौका होगा, जब कोई चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगा। शिवराज के अलावा अब तक अर्जुन सिंह और श्यामाचरण शुक्ल तीन-तीन बार सीएम रहे हैं। इस बार शिवराज के साथ नरेंद्र सिंह तोमर और नरोत्तम मिश्रा के नाम का कयास लगाए जा रहे थे, लेकिन आलाकमान ने शिवराज सिंह का नाम तय किया। सिंधिया को 6 महीने तक बंगला अलॉट नहीं हुआ थाः ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस को अलविदा कह भाजपा में शामिल हो गए। सिंधिया का भाजपा में शामिल होना मीडिया में काफी सुर्खिया बटोरी। इसी बीच सिंधिया के करीबी पूर्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने कहा है कि ‘छोटी-छोटी बातों में भी ज्योतिरादित्य सिंधिया की अनदेखी की जाती थी। उन्हें 6 महीने तक बंगला तक अलॉट नहीं किया गया।


वायरसः बलिया में मिला एक संदिग्ध

बलिया। विश्व भर में फैली व्यापक महामारी कोरोनावायरस ने अपना संक्रमण हर जगह फैला रखा है। जिसके अंतर्गत विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे वैश्विक महामारी घोषित कर दी है। उसी क्रम में शासन प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग ने भी कमर कस ली है। बलिया जिला अस्पताल में विश्व स्वास्थ्य संगठन के कहने पर रिहलसह के लिए कोरोना पीड़ित संदिग्ध व्यक्ति व्यक्ति को हॉस्पिटल लाया गया। जिसे ईलाज के लिए भेजा गया है|


जरूरतमंदों तक पहुंचाएं भोजन सामग्री

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ(आरएसएस) ने कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन वाले राज्यों में लोगों की दिक्कतों को दूर करने के लिए पहल की है। संघ ने अपने स्वयंसेवकों को जरूरतमंदों तक भोजन सामग्री पहुंचाने की अपील की है। संघ ने स्वास्थ्य जागरूकता फैलाने के लिए छोटे-छोटे गुटों में संवाद करने की भी अपील की है।


आरएसएस के सरकार्यवाह सुरेश भय्याजी जोशी ने स्वयंसेवकों से अपील करते हुए कहा, “सभी स्वयंसेवक समाज में स्वच्छता, स्वास्थ्य जागरूकता को लेकर छोटे-छोटे गुटों में संवाद करने की योजना करें तथा जरूरतमंद लोगों को भोजन सामग्री पहुंचाने की व्यवस्था करें।”


सुरेश भैय्याजी जोशी ने आगे कहा, “सभी स्वयंसेवक स्थानीय प्रशासन, जन प्रतिनिधियों से सम्पर्क करते हुए अपेक्षायें समझकर सहयोग करें तथा शासन द्वारा लिए गए निर्णयों के पालन में पूर्ण सहयोग करें।” आरएसएस का मानना है कि लॉकडाउन वाले स्थानों पर कमजोर तबके के लोगों को राशन आदि की दिक्कत हो सकती है।


ऐसे में मानवता का तकाजा है कि ऐसे जरूरतमंदों तक दैनिक जरूरत की वस्तुएं पहुंचाई जाएं। जिससे लॉकडाउन की स्थिति में भी भोजन सामग्री के अभाव में कोई भूखा न रहने पाए।


लाकडाउन को गंभीरता से ले लोग

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लाॅकडाउन को गंभीरता से नहीं लिये जाने पर चिंता जाहिर करते हुए सभी राज्य सरकारों से नियमों और कानूनों को सुनिश्चित कराने का सोमवार को अनुरोध किया। मोदी ने ट्वीट कर कहा, “लॉकडाउन को अभी भी कई लोग गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। कृपया करके अपने आपको बचाएं, अपने परिवार को बचाएं, निर्देशों का गंभीरता से पालन करें। राज्य सरकारों से मेरा अनुरोध है कि वो नियमों और कानूनों का पालन करवाएं।”


गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए विभिन्न राज्यों के 75 जिलों और शहरों को लॉकडाउन घोषित किया गया है। कोराेना वायरस (कोविड-19) के प्रकोप को रोकने के लिए देश के विभिन्न राज्यों में सोमवार से 31 मार्च तक लॉकडाउन रहेगा। लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाओं को छोड़कर अन्य गतिविधियां पूरी तरह से बंद रहेंगी।


मोदी ने जानलेवा कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे लोगों के प्रति धन्यवाद अदा करने वाले लोगों की सराहना करते हुए उन्हें इस चुनौती के खिलाफ लड़ने के लिए लामबंद होने को कहा है। मोदी ने गुरुवार को राष्ट्र के नाम संदेश में लोगों से रविवार को जनता कर्फ्यू में शामिल होने तथा इस वायरस से जंग लड़ रहे लोगों के प्रति धन्यवाद अदा करने के लिए शाम पांच बजे ताली या थाली बजाने (शंखनाद) का आह्वान किया था।


उन्होंने लोगों द्वारा जनता कर्फ्यू और शंखनाद में बडे पैमाने पर शामिल होने और इसका समर्थन करने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने ट्वीट किया, “ कोरोना वायरस की लड़ाई का नेतृत्व करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को देश ने एक मन होकर धन्यवाद अर्पित किया। देशवासियों का बहुत-बहुत आभार।”


उन्होंने कहा, “ये धन्यवाद का नाद है, लेकिन साथ ही एक लंबी लड़ाई में विजय की शुरुआत का भी नाद है। आइए, इसी संकल्प के साथ, इसी संयम के साथ एक लंबी लड़ाई के लिए अपने आप को बंधनों सोशल डिस्टेन्सिंग में बांध लें। ” एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, “आज का जनता कर्फ्यू भले ही रात 9 बजे खत्म हो जाएगा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम सेलिब्रेशन शुरू कर दें। इसको सफलता न मानें। यह एक लम्बी लड़ाई की शुरुआत है। आज देशवासियों ने बता दिया कि हम सक्षम हैं, निर्णय कर लें तो बड़ी से बड़ी चुनौती को एक होकर हरा सकते हैं।”


उन्होंने लोगों से कहा कि वे केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की ओर से जारी किए जा रहे निर्देशों का जरूर पालन करें। जिन जिलों और राज्यों में लॉकडाउन की घोषणा हुई है, वहां घरों से बिल्कुल बाहर न निकलें। इसके अलावा बाकी हिस्सों में भी जब तक बहुत जरूरी न हो, तब तक घरों से बाहर न निकलें। ” उल्लेखनीय है कि देश में कोरोना वायरस से अबतक सात लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 390 लोग संक्रमित हुए हैं।


यात्री ने छीका, पायलट खिड़की से कूदा

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा रखा है। इसकी दहशत का अंदाजा इस कदर लगाया जा सकता है कि एक प्लेन में पैसेंजर को छींक आ गई और हुआ ये कि उसका पायलट कॉकपिट के इमरजेंसी गेट यानी खिड़की से बाहर कूद गया।


दरअसल, यह घटना एयर एशिया इंडिया की पुणे-दिल्ली फ्लाइट  I5-732 की है, शुक्रवार को प्लेन के अंदर तब अफरातफरी मच गई जब पता चला कि फ्लाइट में कोरोना वायरस का एक संदिग्ध मरीज यात्री कर रहा है। क्योंकि एक यात्री को छींक आ गई और उसने छींक दिया। इसकी खबर मिलते ही जैसे ही लैंडिंग हुई पायलट-इन-कमांड ने कॉकपिट के इमरजेंसी एक्जिट से छलांग लगा दी। आम तौर पर पायलट प्लेन के सामने वाले गेट का ही उपयोग करते हैं लेकिन जब उसे पता चला कि पहले ही पंक्ति में बैठे यात्री ने छींका है तो वह घबरा गया और छलांग लगा दी। इसके बाद सभी यात्रियों में अफरातफरी मच गई। हालांकि सभी यात्रियों को पिछले दरवाजे से सुरक्षित बाहर निकाला गया।


जिस यात्री को छींक आई थी, उसे आगे वाले गेट से बाहर निकाला गया। सभी यात्रियों की बाद में जांच की गई और सभी का टेस्ट नेगेटिव आया। सुरक्षा उपाय के रूप में लैंडिंग के बाद विमान को अलग खड़ा किया गया था। घटना के बाद एयर एशिया इंडिया के प्रवक्ता ने बताया कि विमान की पूरी तरह से एंटी इन्फेक्शन से गहरी सफाई की गई। हमारे चालक दल ऐसी घटनाओं के लिए अच्छी तरह से प्रशिक्षित हैं। इसके साथ ही उन्होंने इस विषम परिस्थिति में भी धैर्य से काम लिया, ये बहुत तारीफ की बात है।


घर को संक्रमण रहित करें

कोरोना वायरस से बचने के लिहाज से लोगों के लिए अपने-अपने घरों को संक्रमण से मुक्त रखना जरूरी है। हालांकि सफाई के दौरान ग्लव्स पहनना ना भूलें। अमेरिका स्थित नेशनल सेंटर फॉर इम्युनाइजेशन एंड रेस्पाइटरी डिजीज (एनसीआईएआरडी) ने सफाई के कुछ ये तरीके सुझाए हैं, जिससे आप अपने परिवार को सुरक्षित रख सकते हैं। 
1- फर्श, टेबल, खिड़की को साबुन-पानी से धोएं 
घर में बार-बार संपर्क में आने वाली सतहों जैसे-फर्श, दरवाजे की कुंडी,टेबल,बिजली का स्विच,फोन, हैंडल, की-बोर्ड, टॉयलेट और सिंक को बार-बार साबुन-पानी से साफ करें।
2- ब्लीच और एल्कोहल का इस्तेमाल 
ब्लीच सल्यूशन से घर की साफ-सफाई करें। किसी संक्रमणरोधी चीज का इस्तेमाल करने से पहले निर्देशानुसार उसमें पानी मिलाएं, लेकिन सफाई करने वाले दो तरह के पदार्थों को मिलाने से बचें। एल्कोहल की 70 फीसदी से अधिक मात्रा वाले लोशन का इस्तेमाल कर सकते हैं। 
3- कालीन-पर्दे की सफाई 
घर की मुलायम सतहों जैसे कालीन, पर्दे आदि की सफाई भी साबुन-पानी या अन्य प्रभावी चीज से करें। धुलाई में गर्म पानी का इस्तेमाल करने के बाद इसे अच्छी तरह सुखा लें। 
4- बार-बार हाथ धुलें 
साबुन-पानी से बार-बार 20 सेकंड तक हाथ धुलें। किसी बीमार के संपर्क में आने और ग्लव्स हटाने के बाद भी हाथ धुलें। यदि साबुन-पानी ना हो तो हाथ धुलने के लिए सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें जिसमें कम से कम 60 फीसदी एल्कोहल हो।
5- कूड़ा उठाने में सावधानी 
बीमार व्यक्ति द्वारा किए गए कूड़े को उठाने में सावधानी बरतना जरूरी। कूड़े की थैली हटाते समय ग्लव्स को जरूर पहनें और इसके बाद हाथ अच्छी तरह साफ करें।


मोबाइल प्रयोग बढ़ाएं, सुरक्षित रहें

दैनिक दिनचर्या में हम कई ऐसी चीजें इस्तेमाल करते हैं, जिनमें साफ-सफाई का ध्यान नहीं दिया जाए तो बीमारी को न्योता दिया जा सकता है। इन वस्तुओं में कई तरह के घातक बैक्टीरिया होते हैं, जो सेहत को नुकसान पहुंचा सकते हैं। www.myupchar.com से जुड़े एम्स के डॉ. अजय मोहन के अनुसार, बैक्टीरिया गले, फेफड़ों, त्वचा और आंत समेत कई अंगों को नुकसान पहुंचे हैं। तो आइए जानते हैं रोजमर्रा में उपयोग आने वाले ऐसी चीजों के बारे में, जिन्हें सप्ताह में एक बार जरूर सेनिटाइजर से साफ करना चाहिए।
मोबाइल
आज हम हर व्यक्ति के हाथ में मोबाइल देखते हैं। आपको जानकार इस बात की हैरानी होगी कि हमारे मोबाइल फोन पर टॉयलेट से भी ज्यादा बैक्टीरिया हो सकते हैं। मोबाइल फोन पर बैक्टीरिया नजर भले ही ना आएं, लेकिन यह बेहद ही सूक्ष्म होते हैं, जो हमारे हाथों पर लग जाते हैं, जिस वजह से डायरिया और पेट से जुड़ी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए मोबाइल का उपयोग करने के बाद सीधे खाना नहीं खाना चाहिए। हाथ जरूर साफ करने चाहिए। इसके अलावा मोबाइल को भी सप्ताह में एक बार जरूर साफ करना चाहिए।
टीवी का रिमोट
हर घर में आजकल टीवी रिमोट उपयोग किया जाता है और घरों के सभी सदस्य इसे छूते रहते हैं, जिससे रिमोट पर कई सारे बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं। रिमोट को अधिक बार छूने और बिना हाथ धोए खाना खाने से यह बैक्टीरिया आसानी से शरीर में प्रवेश कर जाते हैं, जिससे बीमार होने की आशंका होती है।
ऑनलाइन पेमेंट कर संक्रमण से बचे
दिनभर एक ही नोट का कई लोग इस्तेमाल करते हैं। एक ही नोट एक दिन में कई लोगों के पास जाता है और कई लोगों के हाथों के ढेर सारे हानिकारक बैक्टीरिया इस पर चिपक जाते हैं। एक शोध में पाया गया है कि नोट पर लगभग 3000 तरह के बैक्टीरिया मौजूद होते हैं। इसलिए नोटों का उपयोग करने के बाद हाथ जरूर धोना चाहिए। वैसे आजकल ऑनलाइन पेमेंट का जमाना है और मार्केट मे कई ऐसे ऐप हैं, जिससे आप नोटों का इस्तेमाल किए बिना तत्काल पेमेंट कर सकते हैं।
एटीएम का इस्तेमाल
एटीएम का इस्तेमाल दिनभर में कई बार किया जाता है। रोज कई लोग एटीएम मशीन के बटन पर हाथ लगाते हैं, जिसके कारण उस पर अनगिनत बैक्टीरिया पनपने लगते हैं और यही बैक्टेरिया हमारे हाथों में आसानी से लग जाते हैं।
कीबोर्ड का उपयोग
कंप्यूटर या लैपटॉप के कीबोर्ड को भी ऑफिस में कई लोग उपयोग करते हैं इस वजह से इसमें बैक्टीरिया आसानी से लग जाते हैं, इसलिए कीबोर्ड का इस्तेमाल करने के बाद हाथ जरूर होना चाहिए।
टूथ ब्रश का इस्तेमाल
ज्यादातर लोग अपना टूथब्रथ वॉशरूम में ही रखते हैं और कई घरों में तो अटैच लेट-बॉथ होते हैं। इस कारण खुले में रखे हुए टूथब्रश पर कई हानिकारक बैक्टिरिया जमा हो जाते हैं। इसके अलावा हम यह भी देखते हैं कि परिवार के सभी सदस्यों के टूथब्रश एक साथ रख दिए जाते हैं, जिसके कारण संक्रमण फैलने का खतरा रहता है। टूथब्रश रखते समय यह सावधानी रखना चाहिए कि सभी के टूथब्रश अलग-अलग रखे हों और ब्रश वाला हिस्सा ढंका हुआ हो ताकि संक्रमण के खतरे से बचा जा सके। आजकल बाजार में टूथब्रश के सुरक्षित तरह से रखने के लिए भी कई तरह के कैप उपलब्ध हैं।
बर्तन साफ करने का स्पंज
बर्तन साफ करने का स्पंज बर्तनों की गंदगी को साफ करता है। कई बार लोग बर्तनों को साफ करके स्पंज को बिना धोए ही रख देते हैं, जिससे इसमें ढेर सारे बैक्टीरिया पनपने लगते हैं, जो हमारे लिए हानिकारक हो सकते हैं।


75 जिलों में लॉकडाउन, सख्ती से पालन

नई दिल्ली /लखनऊ। केंद्र और राज्य सरकार ने उत्तर प्रदेश, पंजाब, कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और महाराष्ट्र के 75 जिलों को पूरी तरह से लॉकडाउन करने का फैसला लिया। ऐसे में केंद्र ने अब राज्यों से लॉकडाउन को सख्ती से लागू करने और उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने को कहा है। बता दें कि दिल्ली पुलिस ने पूरी दिल्ली में 31 मार्च तक निषेधाज्ञा लागू कर दी है और कहा है कि प्रदर्शन और लोगों के एकत्र होने पर प्रतिबंध है। दिल्ली सरकार ने जनता कर्फ्यू के बाद भी लोगों को घरों में रहने की अपील की।
गौरतलब है कि कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। भारत में बीते दो दिन के भीतर 137 से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, भारत में वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 415 पर पहुंच गई। वहीं, मरने वालों की भी संख्या चार से बढ़कर सात हो गई है।  संक्रमित लोगों में से कुल 41 विदेशी नागरिक हैं और सात लोगों की मौत हो चुकी है। मौत का नया मामला महाराष्ट्र, बिहार और गुजरात से सामने आया है। महाराष्ट्र में मृतकों की संख्या दो हो गई है। अब तक दिल्ली, कर्नाटक और पंजाब में एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। 24 अन्य को इलाज के बाद छुट्टी दे गई है। उधर स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, केवल महाराष्ट्र में 24 घंटे में 14 और संक्रमण के मामले बढ़े हैं। यहां अब तक 89 मामले सामने आ चुके हैं। इसके बाद केरल में 52 मामले में हैं जिनमें सात विदेशी नागरिक शामिल हैं। दिल्ली में 27 लोग संक्रमित पाए गए हैं जिनमें एक विदेशी शामिल है जबकि उत्तर प्रदेश में एक विदेशी समेत 25 मामले सामने आए।
दुनियाभर में कोरोना वायरस के तीन लाख से ज्यादा मामले
दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या तीन लाख के पार पहुंच चुकी है। इटली से लेकर भारत और अमेरिका तक की सरकारों ने महामारी को फैलने से रोकने के लिए कड़े कदम उठाए हैं। भारत सहित दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए रविवार को करीब एक अरब लोग घरों में बंद रहे। वहीं, घातक संक्रमण से मरने वालों की तादाद बढ़कर 13,000 के पार पहुंच गई है। इस वैश्विक महामारी से सबसे बुरी तरह से प्रभावित इटली में कारखाने बंद कर दिए गए हैं। दुनियाभर के 170 देशों में रविवार को कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 308,130 है।


मौत का तांडव देख थर्राया इटली

रोम। यूरोपीय देश इटली और स्पेन में कोरोना वायरस से रिकार्ड मौतों का सिलसिला जारी है। इस महामारी से दोनों देशों में हाहाकार मचा हुआ है। पिछले 24 घंटे में इटली में 793 और स्पेन में 324 लोगों की मौत से यूरोपीय देशों की हेल्थ सेवाएं चरमराने लगी हैं। इटली के प्रधानमंत्री गुउसेपे कोंटे ने शनिवार को कहा कि द्वितीय विश्व युद्ध के पश्चात् यह सबसे बड़ा आघात है। अब उनके पास इस संक्रामक रोग से मुकाबला करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा है। इतना कहकर गुउसेपे कोंटे फफक पड़े। जिसके बाद पीएम स्टाफ ने उन्हें सम्हाला। स्पेन में गत शुक्रवार को पांच हजार नए संक्रमित मामले सामने आए। इसके बावजूद शनिवार को इटली के नागरिकों ने अपने घरों की बालकनी से बाहर निकल कर अस्पतालों और फार्मा आदि सेवाओं में काम करने वालों के सम्मान में गीत गुनगुनाया। वहीं स्पेन में मेड्रिड और बार्सिलोना आदि शहरों के लोगों ने तालियां और घंटे बजाकर चिकित्सकों और सुरक्षा में लगे सुरक्षकर्मी-पुलिस के प्रति कृतज्ञता दर्शाई।


विश्व में 12,944 मौत, तीन लाख संक्रमित


अमेरिकी जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी की डाटा टीम के अनुसार कोरोना वायरस से दुनिया भर में संक्रामक रोग के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। शनिवार शाम तक 12,944 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि इस रोग से तीन लाख (3,03,001) संक्रमित मामले सामने आए हैं। इस संक्रामक रोग के कहर से दुनिया भर में अर्थव्यवस्था पर भी ब्रेक लगा है, जिससे मंदी के आसार बनते जा रहे हैं। राष्ट्रपति के प्रमुख आर्थिक सलाहकार लैरी कुडलो ने कहा है कि इकॉनमी को उबारने और उसे नई संजीवनी देने के लिए दो खरब डॉलर की जरूरत पड़ सकती है, जो अमेरिकी जीडीपी (21.4 खरब डालर) का दस प्रतिशत है।


अमेरिका में 302 मौतें, न्यूयार्क में स्थिति बदतर


न्यूयार्क, कैलिफोर्निया, वाशिंगटन, इलिनोईस तथा मैसाचुटेस समेत कई राज्यों में कोरोना वायरस से स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही है। देश के उत्तर पश्चमी राज्य वाशिंगटन की किंग काउंटी के वृद्धाश्रम (नर्सिंग होम) में मौत के तांडव के बाद इन दिनों न्यूयॉर्क में सैकड़ों नए संक्रमित मामलों में वृद्धि से गवर्नर एंड्रयू कोम की नींद उड़ी हुई है। कूमो ने बीते शुक्रवार को ही पूरे राज्य में लॉक-डाउन घोषित कर कड़े प्रतिबंध लगाए थे। न्यूयार्क में 10,356 संक्रमित मामले सामने आए हैं, जो अमेरिका के आधे से अधिक मामले हैं। अमेरिका में शनिवार की दोपहर तक 302 लोगों की मौत हो चुकी है।


सन्यास के बाद टीम सेलेक्टर बनेंगे

ढाका। अपनी क्रिकेट टीम को अगले स्तर पर पहुंचाने के लिए बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड लगातार कई बड़े फैसले ले रही है। अब खबर आई है कि बीसीबी ने अपने दिग्गज क्रिकेटर को संन्यास लेने के लिए कहा है ताकि उसे टीम का सेलेक्टर बनाया जा सके। बांग्लादेश के बाएं हाथ के स्पिनर अब्दुर रज्जाक (Abdur Razzak) को सेलेक्टर बनने का प्रस्ताव दिया गया है. 37 साल के रज्जाक अभी भी घरेलू क्रिकेट खेल रहे हैं और बीसीबी चाहती है कि चयन समिति में खाली हुआ एक पद रज्जाक को दिया जाए।


बांग्लादेश क्रिकेट का बड़ा नाम हैं रज्जाक


बता दें रज्जाक बांग्लादेश क्रिकेट के बड़े नामों में से एक हैं। यही वजह है कि क्रिकेट ऑपरेशंस के चेयरमैन अकरम खान रज्जाक को चयन समिति में जगह देना चाहते हैं। अकरम खान ने बांग्लादेश के एक अखबार को बताया कि उन्होंने रज्जाक को बंगबंधु ढाका प्रीमियर डिविजन क्रिकेट लीग के दौरान ही चयनकर्ता बनने का ऑफर दिया था जिसे उन्होंने अबतक स्वीकार नहीं किया है। अब कोरोना वायरस की वजह से लीग स्थगित हो गई है तो मुमकिन है कि रज्जाक संन्यास लेकर बांग्लादेशी टीम के चयनकर्ता बन जाएं। खुद रज्जाक ने भी इस खबर की पुष्टि कर दी है। रज्जाक ने कहा, ‘हां उन्होंने मुझसे संपर्क साधा था और मैंने फैसला लेने के लिए थोड़ा समय मांगा था। मैंने कहा था कि लीग खत्म होने के बाद मैं अपना फैसला सुनाऊंगा लेकिन अब लीग ही टल गई है और ऐसे में अब मैं इस बारे में सोच सकता हूं।’ रज्जाक का ये भी कहना है कि मुझे सेलेक्टर की जॉब के लिए क्रिकेट छोड़ना पड़ेगा जो कि उनके लिए आसान फैसला नहीं होगा।


सर्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

वैश्विक महामारी कोरोना कोविड-19 से बचाव ही सुरक्षा है। सतर्क रहें, सुरक्षित रहें।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मार्च 24, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-225 (साल-01)
2. मंगलवार, मार्च 24, 2020
3. शक-1942,चैैत्र- कृष्ण पक्ष, तिथि- अमावस्या, संवत 2077


4. सूर्योदय प्रातः 06:20,सूर्यास्त 06:38
5. न्‍यूनतम तापमान 17+ डी.सै.,अधिकतम-31+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से घबराया 'चीन'

बीजिंग। जी-7 के बिल्ड बैक बेटर वर्ल्ड प्लान से चीन घबरा गया है। यही वजह है कि जी-7 देशों की बैठक के तुरंत बाद चीन ने जिनपिंग के ड्रीम प्रोजे...