शुक्रवार, 28 अक्तूबर 2022

लखनऊ में 110 स्‍थानों पर छठ पर्व का आयोजन

लखनऊ में 110 स्‍थानों पर छठ पर्व का आयोजन 

संदीप मिश्र 

लखनऊ। छठ पूजा कार्तिक माह की शुक्ल-पक्ष को की जाती है, इस बार छठ पूजा 30 अक्टूबर को है। लखनऊ इसके लिए सज कर तैयार हो चुका है। लखनऊ में छठ पूजा का सबसे बड़ा आयोजन लक्ष्मण मेला मैदान पर होता है। यही वजह है कि इन दिनों लक्ष्मण मेला मैदान पर तैयारियां जोरों पर हैं। लोग अपने नाम से पिंडिया बनवा रहे हैं और उस पर अपना नाम लिखवा रहे हैं। कई लोग पिंडियों की बुकिंग भी कर रहे हैं। बता दें कि लखनऊ में 110 स्‍थानों पर छठ पर्व का आयोजन होगा। इस दौरान सीएम योगी भी लक्ष्मण मेला मैदान में होने वाले कार्यक्रम में शामिल होंगे।

शुक्रवार से नहाए खाए के साथ छठ पूजा का महापर्व शुरू हो गया है, जिसमें पूरे परिवार के साथ स्नान करने के बाद शुद्ध शाकाहारी भोजन खाया जाता है। इसके बाद 29 तारीख को खरना होगा, जिसमें प्रसाद बनाया जाता है और व्रत शुरू किया जाता है। जबकि 30 तारीख को संध्या अर्घ्य होगा। इस दौरान डूबते हुए सूरज को अर्घ्य दिया जाता है और रात भर गोमती नदी के किनारे यानी लक्ष्मण मेला मैदान पर अपनी अपनी पिंडियों के पास परिवार समेत लोग बैठ कर रात भर छठी मईया के गीत गाते हैं। वहीं, 31 तारीख को उगते हुए सूर्य को जल देकर इस पूरे व्रत का समापन किया जाता है‌ इसमें महिलाएं 36 घंटे का व्रत रखती हैं और कमर तक के पानी में उतर कर सूर्य देवता को अर्घ्य देती हैं।

लखनऊ में 110 जगहों पर होगा आयोजन...
अखिल भारतीय भोजपुरी समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष प्रभुनाथ राय ने बताया कि 30 तारीख को दोपहर 2 बजे से सांस्कृतिक कार्यक्रम लक्ष्मण मेला पार्क पर शुरू हो जाएंगे। इस बार मुंबई से गायक सुरेश शुक्ला आ रहे हैं, जो कि छठी मईया के गीत गाएंगे। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी इस कार्यक्रम में शामिल होंगे। लखनऊ में 110 जगहों पर इस पूजा का आयोजन किया जाएगा और लखनऊ में करीब 10 लाख लोग इस पूजा में शामिल होंगे। लक्ष्मण मेला पार्क में उन्होंने 1984 में पहली बार इस पूजा की लखनऊ में नींव रखी थी और इसी के बाद यह कारवां बढ़ता चला गया। उन्होंने बताया कि इसे महापर्व इसीलिए कहा जाता है। क्योंकि इसमें 36 घंटे का व्रत होता है और यह लगभग 4 दिन तक लगातार चलता है।

दीपावली पर कई प्रतिभाओं को सम्मानित किया 

दीपावली पर कई प्रतिभाओं को सम्मानित किया 


दीपावली पर कई प्रतिभाएं हुई शकुंतला गुप्ता सम्मान से सम्मानित 

गोपीचंद 

बागपत। दीपावली पर कई प्रतिभाओं को शकुंतला रानी गुप्ता सम्मान से सम्मानित किया गया। यह सम्मान समाज सेविका स्वर्गीय शकुंतला रानी गुप्ता की स्मृति में प्रदान किया जाता है। वह एक धार्मिक प्रवर्ति की महिला थी और उनका संपूर्ण जीवन धर्म-ध्यान और समाज के गरीब, मजदूर व दीन-दुखियों की सेवा करने में व्यतीत हुआ। उनके संस्कारी और परोपकारी जीवन से प्रेरणा लेकर आज उनके पति जमनादास गुप्ता जो कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के सेवानिवृत्त जनरल मैनेजर है तथा उनके पुत्र अनिल गुप्ता जो कि रिटायर्ड बैंक अधिकारी हैं, वह भी सामाजिक व धार्मिक कार्यों में लगे हुए हैं।

समाज के हर क्षेत्र में उनका काफी योगदान रहता है। उनका कहना है कि समाज में अच्छा कार्य करने वाले लोगों का उत्साह बढ़ाने के लिए हमें उन्हें सम्मानित करना चाहिए, ताकि अन्य लोग भी उनके कार्यों से प्रेरणा ले सकें। यह सम्मान उनके प्रतिनिधि के तौर पर उन्हें सोशल वर्कर विपुल जैन द्वारा अपने आवास पर प्रदान किया गया।

30 को अफ्रीका के खिलाफ उतरेगी भारतीय टीम

30 को अफ्रीका के खिलाफ उतरेगी भारतीय टीम

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। टी-20 वर्ल्ड कप 2022 में भारतीय टीम अपने तीसरे मुकाबले में 30 अक्टूबर को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ उतरेगी। इस टूर्नामेंट में अबतक टीम इंडिया और दक्षिण अफ्रीका का प्रदर्शन काफी शानदार रहा है। जहां टीम इंडिया अपनी शुरूआती दोनों मुकाबले जीतकर ग्रुप बी के टॉप पर है। वहीं, दक्षिण अफ्रीका की टीम ने भी अपने पिछले मुकाबले में बांग्लादेश को 104 रनों के बड़े अंतर से हराया है।

वहीं, भारतीय टीम के इस बड़े मुकाबले से पहले भारत के पूर्व दिग्गज और बर्ल्ड विनिंग कप्तान कपिल देव ने खास सलाह दी है और बताया है कि इस मैच से पहले टीम इंडिया को किस कमजोरी को दूर करना होगा। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टी-20 वर्ल्ड कप 2022 में मुकाबले से पहले पूर्व दिग्गज कपिल देव ने कहा कि ‘भारतीय टीम की बॉलिंग बेहतर हुई है। मुझे बल्लेबाजी में लगता है और स्कोर बन सकता था। ऑस्ट्रेलिया में मैदान बड़े हैं तो स्पिनर थोड़े फायदे की स्थिति में हैं। पर मुझे लगता है कि हम गेंदबाजी में थोड़े बहुत कमतर हैं और इसपर काम करने की जरूरत है।

कपिल ने कहा कि ‘नीदरलैंड जैसी टीम के खिलाफ आपके पास सही योजना चाहिए। ऐसे मैचों में नो बॉल और वाइड बॉल नहीं होना चाहिए। कुल मिलाकर मैं कहूंगा कि गेंदबाजी अच्छी थी लेकिन कुछ कमियां थी, जो दिखाई दे रही थी।वहीं, कपिल देव ने भारत के कप्तान रोहित शर्मा को लेकर कहा कि ‘भारत अभी भी चाहता है कि उनके कप्तान रोहित शर्मा थोड़ा कॉम्पैक्ट हो और राहुल रन बनाए’। वहीं उन्होंने कहा कि विराट कोहली को एंकर की भूमिका निभानी चाहिए। वह मैच में बाद में तेजी से रन गति को बढ़ा सकते हैं। वहीं कोहली पूरे 20 ओवर खेलते हैं, तो टीम किसी भी लक्ष्य को हासिल कर सकती है।

मुजफ्फरनगर: वायु में प्रदूषण 258 एक्यूआई पर पहुंचा

मुजफ्फरनगर: वायु में प्रदूषण 258 एक्यूआई पर पहुंचा

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। जनपद में दिवाली पर हुई आतिशबाजी व हरयाणा, पंजाब व पश्चिम उत्तर प्रदेश में जलाई जा रही पराली से निकले विषेले धूंए से प्रतिदिन हवा जहरीली होती जा रही है। जिसकी वजह से एक दो दिन छोड दे तो पिछले एक हफ्ते से लोग दम धोटू हवा में सांस लेने को मजबूर है। प्रदूषण विभाग की तमाम कोशिशों के बावजूद भी प्रदूषण के ग्राफ में कोई कमी नहीं आ रही है। जनपद में शुक्रवार को वायु में प्रदूषण 258 एक्यूआई पर पहुंच गया है। हालांकि एक दिन पहले गुरुवार को जनपद में वायु में प्रदूषण की मात्रा 128 एक्यूआई दर्ज किया गया था। जो की बेहतर स्थिति में था। लेकिन एक बार फिर वायू में प्रदूषण की मात्रा बढ़ने लगी है। इसका असर लोगों की सेहत पर भी पड़ रहा है। जिला अस्तताल में मरीजों की संख्या में काफी इजाफा हुआ है। खास कर सांस के रोगियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

जिसके चलते लोगों को सांस लेने में भारी दिक्कतों हो रही है। टीबी के मरीजों की भी संख्या बढ़ रही है। लगातार बढ़ रहें प्रदूषण की रोकथाम में प्रदूषण विभाग नाकामयाब रहा है। तमाम योजनाओं फैल साबित हो रही है। हालांकि बढ़ते प्रदूषण की रोकथाम के लिए विभाग ने इन आठ दस दिनों में ताबतोड़ कार्रवाई भी की। इस दौरान पेपरमिलों का निरीक्षण किया जा रहा है। दिल्ली से भी एनजीटी की टीम ने निरीक्षण किया। बावजूद इसके प्रदूषण रूकने का नाम नहीं ले रहा है। बढ़ते प्रदूषण ने विभाग की भी सांसे फूला दी है। वही विभाग द्वारा लगातर नगर में पानी का छिड़काव करा रहा है। लेकिन रोड किनारे पडे सिमेंट व बालू से उडने वाला डस्ट लोगों की आंखों का जला रहा है।

शहर में मेरठ रोड, रूडकी रोड, भोपा रोड, जानसठ रोड, शामली रोड आदि मार्गों पर भारी भीड़ रहती है। और यहां जगह-जगह बालू के ठेर लगे हुए है। जिसके चलते धूल उड़ने से वायू प्रदूषण को बढ़ावा मिल रहा है। लेकिन विभाग ने अभी तक इन लोगों के लिए कई गाइडलाइन जारी नहीं की। हांलाकि गत वर्ष विभाग ने रोड किनारे सिमेंट व बालू की बिक्री पर रोक लगा दी थी। लेकिन इस बार लगातार बढ़ रहें प्रदूषण को लेकर विभाग ढूलमूल कार्रवाई कर रहा है।

पूजा: सिंह को केक खिलाकर जन्मदिन की बधाई दी

पूजा: सिंह को केक खिलाकर जन्मदिन की बधाई दी


महादेव घाट छठ महापर्व नहाय खाय के साथ प्रारंभ

दुष्यंत टीकम 

रायपुर। चार दिवसीय छठ पूजा शुक्रवार को नहाय खाय विधि के साथ कार्तिक शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि, अक्टूबर 28, शुक्रवार से प्रारम्भ हो गई है। छठ व्रती नहाए-खाय के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान किया और साफ-सुथरे कपड़े पहनकर शाकाहारी भोजन किया। लोहंडा एवं खरना कल शनिवार संध्या  29 अक्टूबर को होगा। शनिवार को लोहंडा एवं खरना विधान के बाद छठ व्रती का 36 घंटे के निर्जला उपवास प्रारम्भ हो जायेगा। संध्या अर्घ्य रविवार 30 अक्टूबर को होगा और उषा अर्घ्य सोमवार 31 अक्टूबर को होगा। 

महादेव घाट छठ महापर्व आयोजन समिति रायपुर के  प्रमुख राजेश कुमार सिंह ने बताया कि चार दिवसीय छठ महापर्व शुक्रवार को नहाय-खाय से प्रारंभ हुआ। इस वर्ष अक्टूबर 28 से 31 तक पूरे भारत सहित विश्व में छठ महापर्व हर्षोल्लास एवं परम्परा के साथ मनाया जा रहा है।  इस वर्ष भी महादेव घाट पर समिति के द्वारा 30 अक्टूबर को सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित की जाएगी। छत्तीसगढ़ के स्थानीय एवं भोजपुरी कलाकार के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति की जाएगी। छत्तीसगढ़ के लोक कलाकार दिलीप षड़ंगी, भोजपुरी कलाकार एवं सुर संग्राम विजेता मोहन राठौर,भोजपुरी कलाकार प्रियंका पांडेय,अंतर्राष्ट्रीय नृत्य नाटिका प्रसिद्ध सोनाली और तरुण चोपड़ा ग्रुप के कलाकार नृत्य नाटिका प्रस्तुत करेंगे। समिति के द्वारा 30 अक्टूबर को खारुन नदी के महादेव घाट पर भव्य संध्या आरती आयोजित की जाएगी। समिति के द्वारा विशाल भंडारे का आयोजन 31 अक्टूबर की सुबह महादेव घाट पर किया जायेगा।

छठ महापर्व आयोजन समिति महादेव घाट रायपुर के सदस्यों ने आयोजन प्रमुख राजेश कुमार सिंह के नेतृत्व में लगातार तीसरे  दिन भी दिनांक 28 अक्टूबर शुक्रवार सुबह को खारुन नदी एवं महादेव घाट की सफाई की।  समिति के सदस्य आज सुबह ६ बजे महादेव घाट पहुंचे और अपना श्रम दान कर खारुन नदी के किनारे घाट की सफाई की।  बड़ी मात्रा में खारुन नदी से कचड़े निकाले और घाट की सफाई की। इस सफाई अभियान में रायपुर नगर निगम के सफाईकर्मी भी महादेव घाट कि सफाई कर रहे हैं। 

शुक्रवार को महादेव घाट छठ महापर्व आयोजन समिति के संचालक साथी आर पी सिंह जो कि कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता है। उनका जन्मदिन भी समिति के साथियों महादेव घाट पर धूमधाम से मनाया। इस अवसर पर महादेव घाट आयोजन समिति के संचालक साथी भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने आर पी सिंह को केक खिलाकर जन्मदिन की बधाई दी। समिति के प्रमुख राजेश कुमार सिंह, समिति के सदस्य रविन्द्र सिंह, परमानन्द सिंह, अजय शर्मा, जयंत सिंह,  सुनील सिंह, रामकुमार सिंह, सत्येंद्र सिंह गौतम, शशि सिंह, बृजेश सिंह, रामविलास सिंह,  कन्हैया सिंह, अमरजीत सिंह, संतोष सिंह,  जयप्रकाश सिंह, मुकुल श्रीवास्तव, चंद्रशेखर सिंह, सरोज सिंह, संजय सिंह, वेद नारायण, अनिल सिंह, मदन विश्वकर्मा, संजय तिवारी, संजीव सिंह, राकेश सिंह, एवं अन्य सदस्यों ने अपना श्रम दान दिया और घाट की सफाई की।   

राजेश कुमार सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन और रायपुर नगर निगम के सहयोग से महादेव घाट की सफाई की जा रही है और महादेव घाट को सजाया जा रहा है। रायपुर शहर में 50 से अधिक तालाबों के किनारे छठ मनाया जा रहा है।पार्किंग, लाइटिंग, एवं व्रती के लिए हर तरह की सुविधा की व्यवस्था समिति के द्वारा महादेव घाट पर किया जा रहा है। इस वर्ष एक लाख से अधिक श्रद्धालु महादेव घाट पर जुटेंगे।  

राजेश कुमार सिंह ने आगे बताया कि छठ महापर्व उत्तर भारतीय समाज का एक महत्वपूर्ण पर्व है। छठ पर्व ही दुनिया का मात्र एक पर्व है जिसमें डूबते सूर्य एवं उगते सूर्य की पूजा की जाती है। छठ पर्व को षष्ठी पूजा एवं सूर्य षष्ठी व्रत के नाम से भी जाना जाता है। यह पर्व कार्तिक शुक्ल पक्ष के षष्ठी को मनाया जाने वाला एक हिन्दू पर्व है। सूर्योपासना का यह अनुपम लोकपर्व मुख्य रूप से पूर्वी भारत के बिहार, झारखण्ड, पूर्वी उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और नेपाल के तराई क्षेत्रों में मनाया जाता है। छठ पूजा सूर्य और उनकी बहन छठी मैया को समर्पित है। त्यौहार और व्रत के अनुष्ठान कठोर हैं और चार दिनों की अवधि में मनाए जाते हैं। छठ पर्व सूर्यदेव की उपासना और छठी मैया का पूजा करने का महापर्व है। इस पर्व पर उगते और डूबते हुए सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है। छठ पूजा पर छठी मैया की पूजा और लोकगीत गाया जाता है। हिन्दू शास्त्रों के अनुसार छठ देवी भगवान ब्रह्माजी की मानस पुत्री और सूर्यदेव की बहन हैं।

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार ब्रह्माजी ने सृष्टि रचने के लिए स्वयं को दो भागों में बांट दिया, जिसमें दाहिने भाग में पुरुष और बाएं भाग में प्रकृति का रूप सामने आया। सृष्टि की अधिष्ठात्री प्रकृति देवी ने अपने आपको छह भागों में विभाजित किया। इनके छठे अंश को सर्वश्रेष्ठ मातृ देवी या देवसेना के रूप में जाना जाता है। प्रकृति का छठा अंश होने के कारण इनका एक नाम षष्ठी है, जिसे छठी मैया के नाम से जाना जाता है। शिशु के जन्म के छठे दिन भी इन्हीं की पूजा की जाती है। इनकी उपासना करने से बच्चे को स्वास्थ्य,सफलता और दीर्घायु का आशीर्वाद मिलता है। बिहार एवं पूर्वी उत्तर प्रदेश के लोग जिस देश एवं राज्यों में जाकर बसे वहां भी अपनी संस्कृति को आज भी बचाये हुऐ हैं। छठ महापर्व नेपाल, फिजी, मॉरिशस, सूरीनाम, गुयाना एवं अन्य देशों में भी मनाया जाता है।

29 को 369 फुट ऊंची शिव प्रतिमा का लोकार्पण होगा

29 को 369 फुट ऊंची शिव प्रतिमा का लोकार्पण होगा

नरेश राघानी 

जयपुर। राजस्थान में राजसमंद जिले के नाथद्वारा कस्बे में निर्मित 369 फुट ऊंची शिव प्रतिमा ‘विश्वास स्वरूपम’ का लोकार्पण (29 अक्टूबर) शनिवार को होगा। दावा है कि भगवान शिव की अल्हड़ व ध्यान मुद्रा वाली यह प्रतिमा दुनिया की सबसे ऊंची शिव प्रतिमा है। लोकार्पण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, कथावाचक मुरारी बापू, योग गुरु बाबा रामदेव, विधानसभा अध्यक्ष डॉ सी.पी. जोशी भी मौजूद रहेंगे।

प्रतिमा का निर्माण तत पदम संस्थान द्वारा किया गया है। संस्थान के ट्रस्टी और मिराज समूह के अध्यक्ष मदन पालीवाल ने कहा कि प्रतिमा के उद्घाटन के बाद 29 अक्टूबर से छह नवंबर तक नौ दिनों तक धार्मिक, आध्यात्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे। इस दौरान मुरारी बापू राम कथा का पाठ भी करेंगे। कार्यक्रम के प्रवक्ता जयप्रकाश माली ने कहा कि नाथद्वारा की गणेश टेकरी पर 51 बीघा की पहाड़ी पर बनी इस प्रतिमा में भगवान शिव ध्यान एवं अल्लड़ की मुद्रा में हैं।

माली ने दावा किया, ‘विश्व की सबसे ऊंची शिव प्रतिमा की अपनी एक अलग ही विशेषता है। 369 फुट ऊंची यह प्रतिमा विश्व की अकेली ऐसी प्रतिमा होगी, जिसमें लिफ्ट, सीढ़ियां, श्रद्धालुओं के लिए हॉल बनाया गया है।’ उन्होंने कहा, ‘प्रतिमा के अंदर सबसे ऊपरी हिस्से में जाने के लिए चार लिफ्ट और तीन सीढ़ियां बनी हैं। प्रतिमा के निर्माण में 10 वर्षों का समय और 3000 टन स्टील और लोहा, 2.5 लाख क्यूबिक टन कंक्रीट और रेत का इस्तेमाल हुआ है।’ इस परियोजना की नींव अगस्त 2012 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मुरारी बापू की उपस्थिति में रखी गई थी। यह स्थान उदयपुर शहर से लगभग 45 किलोमीटर दूर है।

630.14 करोड़ की राशि का सहायता पैकेज घोषित

630.14 करोड़ की राशि का सहायता पैकेज घोषित 

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर। गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने राज्य के आठ लाख से अधिक किसान खातेदारों के व्यापक हित में महत्वपूर्ण निर्णय करते हुए 630.14 करोड़ रुपए की राशि का सहायता पैकेज घोषित किया है। कृषि मंत्री राघवजी पटेल ने शुक्रवार को राज्य सरकार द्वारा घोषित इस सहायता पैकेज की विस्तृत जानकारी देते हुए कहा कि इस सहायता पैकेज के अंतर्गत यह निर्धारित किया गया है कि जिन किसानों की फ़सलों को 33 प्रतिशत या इससे अधिक नुक़सान हुआ है।

उन्हें केले की फ़सल के अलावा अन्य कृषि फ़सलों के लिए एसडीआरएफ तथा राज्य के बजट से प्रति हेक्टेयर 6800 रुपए सहायता राशि अधिकतम दो हेक्टेयर की सीमा के भीतर प्रदान की जाएगी जबकि इस पैकेज के तहत केले की फ़सल को हुए नुक़सान के लिए अधिकतम दो हेक्टेयर की सीमा के भीतर प्रति हेक्टेयर कुल 30,000 रुपए की सहायता (एसडीआरएफ बजट से 13500 रुपए प्रति हेक्टेयर तथा इसके अलावा स्टेट बजट से 16500 रुपए प्रति हेक्टेयर की अतिरिक्त सहायता) इस पैकेज में प्रदान की जाती है।

उन्होंने कहा कि जिन मामलों में भूमिधारक के आधार पर एसडीआरएफ मानदंडों के अनुसार देय सहायता राशि चार हज़ार रुपए से कम होती है तो इन मामलों में भी कम से कम चार हज़ार रुपए की सहायता राशि देने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। ऐसे मामलों में एसडीआरएफ से उपलब्ध सहायता के अतिरिक्त देय सहायता राशि का भुगतान राज्य के बजट से किया जाएगा। कृषि मंत्री ने कहा कि किसानों को इस पैकेज का लाभ तुरंत और अविलम्ब मुहैया कराने तथा समग्र कार्यवाही ऑनलाइन करने हेतु सरकार द्वारा डिजिटल गुजरात माध्यम पर कृषि राहत पैकेज पोर्टल शुरू करने तथा इसके लिए किसानों द्वारा आवश्यक दस्तावेज़ों के साथ निकटस्थ ई-ग्राम केन्द्र पर ऑनलाइन आवेदन करने की व्यवस्था की गई है।

पैकेज का लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को निर्धारित आवेदन पत्र में ग्राम नमूना संख्या 8-ए, पटवारी बुवाई प्रमाणपत्र / ग्राम नमूना संख्या 7-12, आधार नंबर, मोबाइल नंबर, अकाउंट नंबर, इाईएफएससी कोड तथा नाम को दर्शाने वाली बैंक पासबुक के काग़ज़ों की प्रति तथा संयुक्त खाते के मामले में संयुक्त खाताधारकों में से किसी एक के लाभ के लिए अन्य धारक द्वारा हस्ताक्षरित अनापत्ति पत्र आदि साहित्यिक विवरण के साथ तहसील विकास अधिकारी को निर्धारित प्रारूप में ऑनलाइन आवेदन करवाना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि किसानों को आवेदन के लिए किसी शुल्क का भुगतान या ख़र्च नहीं करना होगा। इसका समस्त ख़र्च राज्य सरकार उठाएगी। राज्य में वर्ष 2022 की ख़रीफ़ ऋतु में भारी वर्षा के कारण किसानों की फ़सल को हुए नुक़सान में सहायक होने के उदार दृष्टिकोण से यह सहायता पैकेज घोषित किया गया है। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष भारी वर्षा के कारण 14 ज़िलों में खेतों में पानी भर जाने के कारण फ़सलों को व्यापक नुक़सान हुआ था।

राज्य सरकार को छोटा उदेपुर, नर्मदा, पंचमहाल, नवसारी, वलसाड, डांग, तापी, सूरत, कच्छ, जूनागढ, मोरबी, पोरबंदर, आणंद, खेडा ज़िलों की कुल 50 तहसीलों के 2554 गाँवों में फ़सल नुक़सान संबंधी रिपोर्ट्स सम्बद्ध ज़िला प्रशासन के माध्यम से मिली थी। मुख्यमंत्री ने इन रिपोर्ट्स का व्यापक आकलन किया तथा किसानों, किसान संगठनों एवं जनप्रतिनिधियों की मांग-प्रस्तुतियों के संदर्भ संवेदनापूर्ण दृष्टिकोण अपनाते हुए 630.34 करोड़ रुपए की राशि के यह सहायता पैकेज की घोषणा की है। इस सहायता पैकेज का राज्य में लगभग 9.12 लाख हेक्टेयर भूमि क्षेत्र में आठ लाख से अधिक किसानों को लाभ मिलेगा।

ऑनलाइन पीएचडी पाठ्यक्रम मान्य नहीं: एआईसीटीई

ऑनलाइन पीएचडी पाठ्यक्रम मान्य नहीं: एआईसीटीई

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने शुक्रवार को कहा कि विदेशी शिक्षण संस्थानों के सहयोग से ‘एडटेक’ कंपनियों द्वारा पेश ऑनलाइन पीएचडी पाठ्यक्रम मान्य नहीं हैं। यूजीसी और एआईसीटीआई ने छात्रों के लिए इस साल दूसरी बार ऐसी चेतावनी जारी की है। इस साल की शुरुआत में यूजीसी और एआईसीटीई ने अपने मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों और संस्थानों को एड-टेक कंपनियों के सहयोग से दूरस्थ शिक्षा और ऑनलाइन पाठ्यक्रमों की पेशकश के प्रति आगाह करते हुए कहा था मानदंडों के अनुसार, कोई फ्रैंचाइजी समझौता स्वीकार्य नहीं है।

यूजीसी और एआईसीटीआई की ओर से जारी संयुक्त बयान के मुताबिक पीएचडी डिग्री प्रदान करने के मानकों को बनाए रखने के लिए, यूजीसी ने यूजीसी (एमफिल, पीएचडी डिग्री प्रदान करने हेतु न्यूनतम मानक एवं प्रक्रिया) विनियमन 2016 को अधिसूचित किया है। पीएचडी डिग्री प्रदान करने के लिए सभी उच्च शिक्षण संस्थानों (एचईआई) के लिए यूजीसी की ओर से जारी विनियमन और इसके संशोधनों का पालन करना अनिवार्य है।

बयान में कहा गया है कि छात्रों और आम लोगों को सलाह दी जाती है कि वे विदेशी शिक्षण संस्थानों के सहयोग से एडटेक कंपनियों की तरफ से दिए गए ऑनलाइन पीएचडी कार्यक्रमों के विज्ञापनों के बहकावे में न आएं। आदेश के अनुसार ऐसे ऑनलाइन पीएचडी कार्यक्रम यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हैं। इच्छुक छात्रों और आम लोगों से अनुरोध है कि दाखिला लेने से पहले यूजीसी विनियमन 2016 के अनुसार पीएचडी कार्यक्रमों की प्रामाणिकता सत्यापित करें।

झाड़ियों के किनारे पड़ा हुआ मिला 'वृद्धा' का शव 

झाड़ियों के किनारे पड़ा हुआ मिला 'वृद्धा' का शव 

पंकज कपूर 

हल्द्वानी। बनभूलपुरा थाना क्षेत्र के अंतर्गत रेलवे स्टेशन के पास झाड़ियों के किनारे एक वृद्धा का शव पड़ा हुआ मिला। सूचना पर पहुंची बनभूलपुरा पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। प्राप्त जानकारी के अनुसार रेलवे स्टेशन के समीप झाड़ियों में एक वृद्ध महिला का शव मिला था। स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना तुरंत बनभूलपुरा थाने को दी। सूचना पर एसआई मनोज यादव मय टीम के साथ मौके पर पहुंचे और शव को अपने कब्जे में लिया। मृतका महिला की शिनाख्त 75 वर्षीय कलावती पत्नी रामस्वरूप जवाहरनगर वार्ड नंबर 15 बनभूलपुरा के रूप में हुई।

पुलिस ने घटना की सूचना महिला के परिजनों को दी। सूचना मिलते ही मृतका के परिजन भी घटनास्थल पर पहुंच गए। परिजनों द्वारा बताया जा रहा कि बुजुर्ग महिला बीते गुरूवार को बिना कुछ कहे घर से चली गई थी। आज उनका शव यहां रेलवे स्टेशन के पास झाड़ियों से बरामद हुआ है। मृतका बुजुर्ग महिला की आंख में चोट के निशान भी मिले है। एसआई मनोज यादव ने कहा महिला की हत्या हुई या किसी अन्य कारणों से मौत हुई है यह अभी कुछ कहा नहीं जा सकता है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही स्पष्ट पता चल पायेगा।

दावा: भाजपा उम्मीदवारों के लिए प्रचार करेंगे पासवान 

दावा: भाजपा उम्मीदवारों के लिए प्रचार करेंगे पासवान 

अविनाश श्रीवास्तव 

पटना। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की बिहार इकाई के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने शुक्रवार को दावा किया कि चिराग पासवान राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के सहयोगी हैं और राज्य के मोकामा एवं गोपालगंज विधानसभा क्षेत्रों में हो रहे उपचुनाव में भाजपा उम्मीदवारों के लिए प्रचार करेंगे। जायसवाल ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि लोजपा (रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान मोकामा एवं गोपालगंज के उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में चुनाव प्रचार करेंगे। उन्होंने कहा कि चिराग 31 अक्टूबर को मोकामा जबकि एक नवंबर को गोपालगंज में चुनाव प्रचार में भाग लेंगे। भाजपा नेता ने कहा, ‘हम उन सभी दलों को राजग का सहयोगी मानते हैं, जिन्होंने हमारे साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा है और राष्ट्रपति चुनाव में हमारा समर्थन किया है।’

दलित समुदाय से आने वाले कद्दावर नेता रामविलास पासवान के बेटे चिराग पासवान ने अपने पिता द्वारा स्थापित लोक जनशक्ति पार्टी का नेतृत्व किया, जो पिछले साल चाचा पशुपति कुमार पारस की बगावत के कारण टूट गयी थी। चिराग पासवान ने 2020 के विधानसभा चुनाव में उस समय खलबली मचा दी थी जब उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ बगावत कर दी थी। उस समय कुमार राजग का हिस्सा थे। जायसवाल ने यह भी घोषणा की कि भाजपा उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर कर गोपालगंज से राजद उम्मीदवार मोहन प्रकाश गुप्ता का नामांकन रद्द करने की मांग करेगी।

उन्होंने दावा किया, ‘हमने हाल ही में निर्वाचन आयोग को एक ज्ञापन सौंपा है जिसमें कहा गया है कि गुप्ता ने झारखंड में अपने खिलाफ दर्ज शराब तस्करी के एक मामले से संबंधित जानकारी छुपाई है। अब तक चुनाव अधिकारी द्वारा इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई है। इसलिए हम एक नवंबर को अदालत का रुख करेंगे।’ जायसवाल ने आरोप लगाया कि मोकामा में बाहुबली से नेता बने अनंत कुमार सिंह द्वारा मतदाताओं को डराने का प्रयास किया जा रहा है। अनंत सिंह की पत्नी राजद उम्मीदवार के तौर पर अपने पति को अयोग्य ठहराए जाने के कारण खाली हुई इस सीट को बरकरार रखना चाहती हैं।

भाजपा नेता ने आरोप लगाया, ‘कल मोकामा के मुख्य बाजार में डकैती हुई थी। डकैत अनंत सिंह के गुर्गे थे जिनका मुख्य उद्देश्य लोगों को अपने नेता का समर्थन नहीं करने पर गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी देना था।’

आप ने 13 उम्मीदवारों की सातवीं सूची जारी की

आप ने 13 उम्मीदवारों की सातवीं सूची जारी की

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर/अहमदाबाद। अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आम आदमी पार्टी (आप) ने आगामी गुजरात विधानसभा चुनावों के लिए अपने 13 उम्मीदवारों की सातवीं सूची शुक्रवार को जारी की। इसके साथ ही पार्टी ने अब तक 86 उम्मीदवारों के नाम घोषित कर दिये हैं। यह सूची पार्टी की राज्य इकाई के अध्यक्ष गोपाल इटालिया ने जारी की। गुजरात विधानसभा की 182 सीट के लिए चुनाव इस साल के अंत तक होने वाले हैं। हालांकि अभी चुनाव कार्यक्रम की घोषणा नहीं हुई है। जिन 13 सीट के लिए आप ने उम्मीदवारों की सूची जारी की है, उनमें से 10 सीट फिलहाल सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पास हैं, जबकि शेष तीन विपक्षी कांग्रेस के पास हैं। इटालिया ने कहा कि दो सीट – काडी और कलावाड़ – अनुसूचित जाति (एससी) के उम्मीदवारों, जबकि तीन – सांखेड़ा, मांडवी और महुवा अनुसूचित जनजाति (एसटी) के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित हैं।

इटालिया ने संवाददाताओं से कहा कि उम्मीदवारों में एक सेवानिवृत्त सरकारी अधिकारी, डॉक्टर, वकील और उद्योगपति शामिल हैं। जिन सीट के लिए आज उम्मीदवारों के नामों की घोषणा की गई, उनमें काडी (एससी), गांधीनगर (उत्तर), वाधवान, मोरबी, जसदान, जेतपुर, कलावाड़ (एससी), जामनगर (ग्रामीण), महमेदाबाद, लूनावाड़ा, सांखेड़ा (एसटी), मांडवी (एसटी) और महुवा (एसटी) शामिल हैं। इन सीट पर क्रमश: एच के डाभी, मुकेश पटेल, हितेश बजरंग, पंकज रंसरिया, तेजस गाजीपारा, रोहित भुवा, डॉ जिग्नेश सोलंकी, प्रकाश डोंगा, प्रमोदभाई चौहान, नटवरसिंह सोलंकी, रंजन तडवी, सान्याबेन गामित और कुंजन पटेल ढोडिया उम्मीदवार बनाए गए हैं। अब तक न तो भाजपा और न ही कांग्रेस ने आगामी चुनावों के लिए उम्मीदवारों की सूची जारी की है।

असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने अब तक दानिलिमदा (एससी), जमालपुर खड़िया, सूरत-पूर्व, बापूनगर और लिंबायत सीटों से पांच उम्मीदवारों की सूची जारी की है। आप ने खुद को सत्तारूढ़ भाजपा को कड़ा मुकाबला देने वाली मुख्य दावेदार पार्टी के रूप में स्थापित किया है। इसके राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल राज्य में आक्रामक रूप से प्रचार कर रहे हैं तथा रैली और सभाओं को सम्बोधित कर रहे हैं। वह जनता से मुफ्त बिजली और बेहतर शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधाओं के चुनाव-पूर्व वादे कर रहे हैं।

गवर्नर की गोलमेज चर्चा के दौरान विचार साझा किए

गवर्नर की गोलमेज चर्चा के दौरान विचार साझा किए

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। वित्त मंत्री ने ‘संकटग्रस्त दुनिया में अवसंरचना का वित्तपोषण करना’ विषय पर गवर्नर की गोलमेज चर्चा के दौरान अपने विचार साझा किए। अपने संबोधन में वित्त मंत्री ने सदस्य देशों की सहायता करने और उच्च गुणवत्ता वाला विकास वित्त प्रदान करने के लिए एआईआईबी की निरंतर प्रतिबद्धता एवं समर्पण की सराहना की। श्रीमती सीतारमण ने कहा कि बाह्य खतरों के बावजूद भारत की बेहतरीन लक्षित नीतियों, प्रमुख ढांचागत सुधारों और सुदृढ़ बाह्य बैलेंस शीट से भारत में आर्थिक विकास की गति को निरंतर मजबूत बनाए रखने में काफी सहायता मिली है। वित्त मंत्री ने इस बात पर विशेष जोर दिया कि भारत एक आत्मनिर्भर अर्थव्यवस्था की राह पर चल पड़ा है और इसलिए वह महामारी के नकारात्मक प्रभावों को कम करने में सफल रहा है।

श्रीमती सीतारमण ने भारत के डिजिटलीकरण मिशन के माध्यम से भारत द्वारा की गई उल्लेखनीय प्रगति को रेखांकित किया जिसके तहत सामाजिक सुरक्षा को सुविधाजनक बनाने और वित्तीय समावेश को बढ़ावा देने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग किया गया है। वित्त मंत्री ने इस बात पर भी प्रकाश डाला कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ‘पर्यावरण के लिए जीवन शैली’ (या लाइफ)’ जैसे विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए भारत द्वारा किए जा रहे अथक प्रयासों का सक्रिय रूप से नेतृत्व कर रहे हैं।

वित्त मंत्री ने सुझाव दिया कि यह सुनिश्चित करने के लिए कि इन सभी के सार्थक प्रभाव हों और संसाधन कई क्षेत्रों में न बिखर जाएं, एआईआईबी को प्राथमिकता वाले प्रमुख क्षेत्रों में निवेश बढ़ाने की जरूरत है जिनमें शिक्षा व स्वास्थ्य, और डिजिटल अवसंरचना पर विशेष रूप से फोकस करने के साथ-साथ स्वच्छ ऊर्जा एवं ऊर्जा दक्षता, आपदा रोधी अवसंरचना, और सामाजिक अवसंरचना शामिल हैं।

मां भगवती के जागरण के कार्यक्रम का रसपान किया

मां भगवती के जागरण के कार्यक्रम का रसपान किया

सुमित मिश्रा 

कन्नौज। जनपद कन्नौज इंदरगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम जदेपुर्वा गांव मे देवी जागरण का कार्यक्रम किया गया। भक्तों ने भक्ति भाव से मां भगवती के विशाल जागरण के कार्यक्रम का रसपान किया। कार्यक्रम में भक्तों की काफी संख्या में भीड़ रही। अतुल साबरी ग्रुप कानपुर से आए कलाकारों द्वारा बहुत ही सुंदर सुंदर भजनों का गायन किया गया। सिंगर माझी त्रिवेदी कानपुर ने देवी जागरण में ऊंचा सजा है, तेरा द्वार भवानी के गाने पर भक्त झूम उठे।

देवी जागरण में भक्तों ने भक्ति भाव से मां के भजनों को सुना। कानपुर के नैना किंकर , उपदेश राज ने आज के देवी जागरण के कार्यक्रम मे मीठी मीठी तालियों के साथ भजनों को सुनाया। काफी संख्या में लोगों की भीड़ रही। देवी जागरण के कार्यक्रम मे बेलामऊ सरैया ग्राम पंचायत प्रधान मो जान आलम , सिरसा ग्राम पंचायत प्रधान संजीव कुमार बहेरा ग्राम पंचायत के प्रधान महेश चंद्र , यस डी जे पी इंटर कॉलेज प्रबंधक उमेश कनौजिया सहित कार्यक्रम में समस्त भक्तगण उपस्थित रहे।

भैंसा-बुग्गी पर लगाई गई रोक को तत्काल हटाया जाए

भैंसा-बुग्गी पर लगाई गई रोक को तत्काल हटाया जाए

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। गढ़मुक्तेश्वर में 29 अक्टूबर से प्रारंभ हो रहे कार्तिक गंगा स्नान मेले में हापुड, मेरठ जिला प्रशासन ने भैंसा-बुग्गी के आवागमन पर रोक लगाई है। इसके पीछे पशुओं में फैली लंपी वायरस की बीमारी का हवाला दिया गया है। भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत के बाद अब केंद्रीय राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान ने मामले पर कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने प्रदेश के पशुधन एवं दुग्ध विकास मंत्री, मेरठ, सहारनपुर मंडलायुक्त समेत हापुड, मेरठ, मुजफ्फरनगर डीएम को पत्र लिखा है। जिसमें कहा कि कार्तिक मेले में भैंसा-बुग्गी पर लगाई गई रोक को तत्काल हटाया जाए।

केंद्रीय राज्यमंत्री डा. संजीव बालियान द्वारा जारी किए गए पत्र में साफ लिखा है, कि देशभर में लंपी वायरस की बीमारी गोवंशीय पशुओं में पाई है। देश में कहीं भी भैंस, खच्चर, घोड़ा आदि में यह बीमारी नहीं मिली है। गढ़ गंगा कार्तिक मेला पैराणिक व धार्मिक होने के कारण उत्तर प्रदेश, हरियाणा समेत आसपास के जिलों से लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ जुटती है, जो मां गंगा का आचमन करने पहुंचती है। कोविड़-19 संक्रमण काल के कारण दो वर्ष से मेले का आयोजन नहीं हो रहा था। इस बार हापुड़ प्रशासन ने मेले में घोड़ा, खच्चर, गाय, बैल एवं भैंसा-बुग्गी का प्रवेश लंपी वायरस का हवाला देकर प्रतिबंध किए है। देशभर में भैंस वंशीय पशुओं में लंपी की बीमारी नहीं मिली है। लाखों लोगों की आस्था एवं पुरानी संस्कृति को संजोने वाले कार्तिक मेला स्नान में श्रद्धालु अपने संसाधनों से आते और जाते हैं। आस्था को ध्यान में रखकर मेले में भैंसा-बुग्गी पर लगाए गए प्रतिबंध को तत्काल हटाया जाए।

भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौ. नरेश टिकैत ने भी हापुड़, मेरठ प्रशासन के इस निर्णय पर नाराजगी जताई थी। कहा कि प्रशासन लोगों को नि:शुल्क मेले में पहुंचाने की व्यवस्था नहीं कर सकता है। इस तरह के प्रतिबंध भारतीय संस्कृति से छेड़छाड़ जैसे हैं।

तीन दिनों में 35 करोड़ से अधिक की कमाई: रामसेतु 

तीन दिनों में 35 करोड़ से अधिक की कमाई: रामसेतु 

कविता गर्ग 

मुंबई। सुपरस्टार अक्षय कुमार की एक्शन एडवेंचर फिल्म 'राम सेतु' ने रिलीज होने के बाद पहले तीन दिनों में बॉक्स ऑफिस पर 35 करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की। तेरे बिन लादेन से सुर्खियों में आए अभिषेक शर्मा के निर्देशन में बनी यह फिल्म गत मंगलवार को सिनेमाघरों में रिलीज हुई।

फिल्म निर्माताओं की ओर से शुक्रवार को जारी बयान में कहा गया कि राम सेतु ने तीन दिनों में 35.4 करोड़ रुपये की कमाई की है। यह फिल्म एक नास्तिक पुरातत्ववेत्ता से आस्तिक बने डॉ. आर्यन कुलश्रेष्ठ (कुमार) पर केंद्रित है, जो भारतीय विरासत के स्तंभ को नष्ट करने वाली ताकतों के समक्ष राम सेतु के अस्तित्व को साबित करने के लिए कालक्रम को खंगालते हैं।

फिल्म में सत्यदेव, जैकनील फर्नांडीज और नुसरत भरुचा ने अभिनय किया है, जिसे पारिवारिक कॉमेडी फिल्म थैंक गॉड के साथ रिलीज किया गया। ‘राम सेतु’ को प्राइम वीडियो ने केप ऑफ गुड फिल्म्स एवं लाइका प्रोडक्शंस के साथ प्रस्तुत किया है।

'एमएसआई' का शुद्ध लाभ 2,112.5 करोड़ रुपए हुआ

'एमएसआई' का शुद्ध लाभ 2,112.5 करोड़ रुपए हुआ

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी कार विनिर्माता मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) का एकीकृत शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में चार गुना से अधिक बढ़कर 2,112.5 करोड़ रुपए हो गया। वहीं आय में 46 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़त देखने को मिली है। कंपनी ने शुक्रवार को शेयर बाजारों को इसकी जानकारी देते हुए कहा कि जुलाई-सितंबर तिमाही में रिकॉर्ड बिक्री से उसका मुनाफा बढ़ा है।

कंपनी ने पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 486.9 करोड़ रुपए का एकीकृत शुद्ध लाभ कमाया था। एमएसआई के मुताबिक, आलोच्य तिमाही में उसकी कुल परिचालन आय एक साल पहले के 20,550.9 करोड़ रुपए से बढ़कर 29,942.5 करोड़ रुपये हो गयी। वाहन विनिर्माता ने दूसरी तिमाही के दौरान कुल 5,17,395 वाहनों की बिक्री की जो किसी भी तिमाही की तुलना में उसकी सर्वाधिक बिक्री है।

इस दौरान कंपनी की घरेलू बाजार में बिक्री 4,54,200 इकाई रही। मारुति सुजुकी ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की किल्लत होने से करीब 35,000 वाहनों के उत्पादन पर असर पड़ा। पिछले साल की समान तिमाही में भी इन उपकरणों की भारी किल्लत होने से कंपनी की बिक्री 3,79,541 इकाई रही थी।

कानून एवं व्यवस्था का सीधा संबंध विकास से है

कानून एवं व्यवस्था का सीधा संबंध विकास से है

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आंतरिक सुरक्षा के लिए सभी राज्यों से एक साथ मिलकर काम करने पर जोर देते हुए शुक्रवार को कहा कि कानून एवं व्यवस्था का सीधा संबंध विकास से है। अत: शांति बनाए रखना हर किसी की जिम्मेदारी है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से यहां सभी राज्यों के गृह मंत्रियों के लिए आयोजित दो दिवसीय चिंतन शिविर को वीडियो कांफ्रेंस के जरिए संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रत्येक राज्य को एक-दूसरे से सीखना चाहिए, प्रेरणा लेनी चाहिए और आंतरिक सुरक्षा के लिए एक साथ मिलकर काम करना चाहिए।

मोदी ने कहा कि आंतरिक सुरक्षा के लिए राज्यों का एक साथ मिलकर काम करना संवैधानिक आदेश के साथ ही देश के प्रति जिम्मेदारी भी है। सभी एजेंसियों को कार्य क्षमता, बेहतर परिणाम और आम आदमी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक-दूसरे के साथ सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कानून एवं व्यवस्था की स्थिति संविधान के अनुसार राज्य का विषय हैं, हालांकि वह देश की एकता एवं अखंडता से समान रूप से संबद्ध है। दो दिवसीय चिंतन शिविर का उद्देश्य ‘विजन 2047’ और ‘पंच प्रण’ पर अमल के लिए एक कार्य योजना बनाना है, जिसका एलान प्रधानमंत्री मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर अपने संबोधन में किया था।

प्रधानमंत्री ने पुलिस के लिए एक राष्ट्र, एक वर्दी का विचार रखते हुए कहा कि इसे थोपना नहीं चाहिए, बल्कि इस पर विचार करना चाहिए। उन्होंने कहा कि पुलिस के बारे में अच्छी धारणा बनाए रखना महत्वपूर्ण है। मोदी ने राज्यों से आजादी से पहले बनाए कानूनों की समीक्षा करने तथा मौजूदा संदर्भ में उनमें संशोधन करने के लिए भी कहा।

शुक्ल-पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाएगा 'छठ' पर्व

शुक्ल-पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाएगा 'छठ' पर्व

सरस्वती उपाध्याय 

आस्था के महापर्व छठ पूजा कार्तिक माह के शुक्ल-पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाया जाता है। छठ पूजा का प्रारंभ 28 अक्टूबर से हो गया है। छठ का महापर्व चार दिन का होता है और यह व्रत काफी कठिन होता है। क्योंकि इस दौरान व्रती को लगभग 36 घंटे तक निर्जला व्रत रखना होता है। इस व्रत में व्रती लगातार 36 घंटे का निर्जला उपवास करते हैं। लगातार 36 घंटे तक भूखे प्यासे रहने से सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। ऐसे में कुछ बातों का ध्यान रखकर आप अपनी आस्था और सेहत दोनों का ध्यान रख सकते हैं। तो आइए जानते हैं इतने कठिन व्रत को करते हुए कैसे आप दिन भर एनर्जेटिक और हेल्दी बने रह सकते हैं।

छठ व्रत करते समय बरतें ये सावधानी...

कम बातचीत करें...

छठ का व्रत रखने वाले व्यक्ति को कम से कम बातचीत करनी चाहिए। ज्यादा बात करने से शरीर की एनर्जी बर्बाद होती है और धीरे-धीरे शरीर कमजोर पड़ने लगता है। ऐसे में अपना ध्यान पूजा-पाठ में लगाएं।

गर्मी में न रहें...

व्रत रखने वाले लोगों को ऐसी जगह चुननी चाहिए, जहां खड़े होने पर उन्हें ज्यादा गर्मी न लगे। गर्मी लगने से तबीयत बिगड़ सकती है। व्रत रखने वाला व्यक्ति कोशिश करें कि वो धूप में न निकलें।

चेहरे और गले पर लगाएं बर्फ...

लंबे समय तक व्रत रखने से काफी ज्यादा प्यास लगने लगती है। इस स्थिति से बचने के लिए आप आइस क्यूब की मदद ले सकते हैं। इसके लिए एक साफ कपड़े में बर्फ का टुकड़ा बांधकर उसे अपने गर्दन और चेहरे पर लगाएं। ऐसा करने से शरीर में ठंडक बनी रहेगी और आपको प्यास कम लगेगी।

डॉक्टर की सलाह...

अगर आप किसी रोग से परेशान है तो छठ का व्रत रखने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। चिकित्सक से जांच करवाने के बाद ही आप उपवास करें। इसके अलावा उपवास के दौरान कोई परेशानी महसूस होने पर सबसे पहले डॉक्टर की सलाह लें।

छठ पूजा के दौरान न करें ये गलतियां...

छठ पूजा का व्रत करने वाले व्यक्ति को बेड, गद्दा या पलंग पर नहीं सोना चाहिए। चार दिन तक व्रत करने वाले व्यक्ति को जमीन पर आसन बिछाकर ही सोने का नियम बताया गया है।

जो भी व्यक्ति व्रत करता है, उसके साथ उसके परिजन को भी तामसिक भोजन जैसे लहसुन-प्याज तक के सेवन को करने से बचना चाहिए।

छठ पूजा के प्रसाद को कोई और नहीं बना सकता, इसको केवल व्रत रखने वाले लोग ही बनाते हैं।

छठी मैया को चढ़ाने वाली कोई भी चीज झूठी और खंडित नहीं होनी चाहिए। अगर पेड़ों पर लगे फल-फूल को भी पशु-पक्षी ने झूठा किया हुआ है तो उसको भी माता को अर्पित न करें। फल-फूल हमेशा साफ-सुथरे और शुद्ध होने चाहिए।

नहाय खाय के दिन व्रती महिलाओं को सात्विक भोजन ग्रहण करना चाहिए, जिसमें लहसुन प्याज नहीं रहता है। व्रतियों का पूरे चार दिन लहसुन, प्याज से दूर रहना चाहिए। माना जाता है कि तीज त्योहार पर ऐसा भोजन करने से व्रत की पवित्रता भंग हो जाती है।

पूजा की चीजों को छूते समय अपने हाथों को साफ करें और अन्य चीजें छूने के बाद छठ के सामानों को न छूएं।

25 जनवरी, 2024 को रिलीज होगी फिल्म 'फाइटर'

25 जनवरी, 2024 को रिलीज होगी फिल्म 'फाइटर'

कविता गर्ग 

मुंबई। बॉलीवुड सुपरस्टार ऋतिक रोशन और दीपिका पादुकोण अभिनीत फिल्म फाइटर 25 जनवरी, 2024 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी। वॉर फिल्म से चर्चित निर्देशक सिद्धार्थ आनंद की इस फिल्म में रोशन और पादुकोण भारतीय वायुसेना के पायलटों की भूमिका निभाएंगे।

वायकॉम 18 स्टूडियोज और ‘मैरफ्लिक्स पिक्चर्स फिल्म का निर्माण कर रहे हैं। निर्माताओं ने फिल्म रिलीज होने की जानकारी ट्विटर पर दी। ‘वायकॉम 18 स्टूडियोज’ ने लिखा कि यह बताते हुए खुशी हो रही है कि भारत की पहली एरियल एक्शन फिल्म फाइटर भारत के 75वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर 25 जनवरी 2024 को रिलीज होगी। फिल्म निर्माताओं के अनुसार फाइटर भारतीय सशस्त्र बलों की वीरता, बलिदान और देशभक्ति को समर्पित है। फिल्म में अभिनेता अनिल कपूर भी अहम भूमिका में दिखेंगे।

फाइटर 2014 में आई बैंग बैंग और ब्लॉकबस्टर वॉर (2019) के बाद आनंद और रोशन की साथ में तीसरी फिल्म है। इससे पहले फिल्म के 26 जनवरी, 2023 को रिलीज होने की उम्मीद थी। रोशन और कपूर ने अपने-अपने ट्विटर पेज पर फिल्म की नई रिलीज तारीख के बारे में जानकारी दी।

राजनीति: गुजरात के 3 दिवसीय दौरे पर रहेंगे 3 नेता  

राजनीति: गुजरात के 3 दिवसीय दौरे पर रहेंगे 3 नेता  

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर/अहमदाबाद। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता अरविंद केजरीवाल और भगवंत मान तथा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत शुक्रवार से गुजरात के तीन दिवसीय दौरे पर रहेंगे। इस दौरान ये नेता राज्य के विभिन्न हिस्सों में अपनी-अपनी पार्टी की विभिन्न जनसभाओं को संबोधित करेंगे। दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और पंजाब के उनके समकक्ष भगवंत मान छ: रैलियों को संबोधित करेंगे। पार्टी सूत्रों ने बताया कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत भी छह रैलियों को संबोधित करेंगे।

‘आप’ की ओर से साझा की गई जानकारी के अनुसार, केजरीवाल और मान पंचमहल जिले की मोरवा हदफ विधानसभा सीट पर दोपहर 12 बजे एक जनसभा को संबोधित करेंगे। वे पाटन जिले की कांकरेज विधानसभा सीट पर भी एक रैली को संबोधित करेंगे। कार्यक्रम के मुताबिक, केजरीवाल और मान शनिवार को नवसारी जिले के चिखली और नर्मदा जिले के डेडियापाडा में एक जनसभा को संबोधित करेंगे, जबकि रविवार को दोनों भावनगर जिले की गरियाधर विधानसभा सीट और राजकोट जिले के धोराजी में जनसभाओं को संबोधित करेंगे। पार्टी पदाधिकारियों ने बताया कि अपने इस दौरे पर वे आगामी चुनाव की रणनीति पर चर्चा करने के लिए ‘आप’ के नेताओं के साथ बैठक भी करेंगे।

वहीं, गहलोत शुक्रवार को दाहोद जिले के गरबाडा और झालोद में दो रैलियों को संबोधित करेंगे। पार्टी सूत्रों ने बताया कि शनिवार को वह दक्षिण गुजरात के नवसारी जिले के नवसारी में रैलियों को संबोधित करेंगे, जबकि रविवार को वह बनासकांठा जिले के दंता, साबरकांठा जिले के खेदब्रह्मा और अरावली जिले के भिलोदा में एक-एक रैली को संबोधित करेंगे। गुजरात की 182 सदस्यीय विधानसभा के लिए साल के अंत में चुनाव होने हैं। राज्य में फिलहाल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार है।

पीएम ने ‘एक राष्ट्र, एक वर्दी’ का विचार प्रस्तुत किया

पीएम ने ‘एक राष्ट्र, एक वर्दी’ का विचार प्रस्तुत किया 

अकांशु उपाध्याय/राणा ओबरॉय 

नई दिल्ली/सूरजकुंड/चंडीगढ़ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को पुलिस के लिए ‘एक राष्ट्र, एक वर्दी’ का विचार प्रस्तुत किया और कहा कि यह उनकी तरफ से एक विचार मात्र है और वह इसे राज्यों पर थोपने का प्रयास नहीं कर रहे हैं। यहां आयोजित राज्यों के गृह मंत्रियों के दो दिवसीय ‘चिंतन शिविर’ को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने अपराध और अपराधियों पर नकेल कसने के लिए राज्यों के बीच निकट सहयोग की वकालत की। उन्होंने कहा कि सहकारी संघवाद ना सिर्फ संविधान की भावना है बल्कि यह केंद्र और राज्यों की जिम्मेदारी भी है। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘पुलिस के लिए ‘एक राष्ट्र, एक वर्दी’ सिर्फ एक विचार है। मैं यह आप सभी पर थोपने की कोशिश नहीं रहा। इसके बारे में आप सोचिए। यह 5, 50 या सौ सालों में हो सकता है। लेकिन हमें इसके बारे में विचार करना चाहिए।'

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनका मानना है कि देश भर में पुलिस की पहचान एक जैसी हो सकती है। उन्होंने सभी राज्य सरकारों से पुराने कानूनों की समीक्षा करने और आज के संदर्भ में उनमें सुधार करने का आग्रह किया। उन्होंने कानून-व्यवस्था और सुरक्षा की उभरती चुनौतियों के समाधान के लिए सभी एजेंसियों के बीच समन्वित कार्रवाई की भी गुजारिश की। मोदी ने कहा कि पुलिस के बारे में अच्छी धारणा बनाए रखना ‘बहुत महत्वपूर्ण’ है और इस राह में जो खामियां विद्यमान हैं, उन्हें दूर किया जाना चाहिए।

पीएम मोदी ने कहा कि यद्यपि संविधान के हिसाब से कानून-व्यवस्था राज्यों का विषय है लेकिन यह देश की एकता और अखंडता से भी उतना ही जुड़ा हुआ है। उन्होंने कहा, ‘हर एक राज्य एक दूसरे से सीखे, एक दूसरे से प्रेरणा ले और आंतरिक सुरक्षा के लिए मिलकर काम करे। आंतरिक सुरक्षा के लिए राज्यों का साथ मिलकर काम करना संवैधानिक अनिवार्यता है और साथ ही देश के प्रति जिम्मेदारी भी है।’

प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी एजेंसियों को, वह चाहे केंद्र की हों या राज्यों की, सभी को एक दूसरे का सहयोग करना चाहिए ताकि दक्षता बढ़े, बेहतर परिणाम सामने आए और आम जन को सुरक्षा मिले। उन्होंने कहा कि कानून एवं व्यवस्था का सीधा संबंध विकास से है, अत: शांति बनाए रखना हर किसी की जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा, ‘जब देश का सामर्थ्य बढ़ेगा तो देश के हर नागरिक व हर परिवार का सामर्थ्य बढ़ेगा। यही तो सुशासन है, जिसका लाभ देश के हर राज्य को समाज की आखिरी पंक्ति में खड़े व्यक्ति तक पहुंचाना है।’

मोदी ने कहा कि कानून-व्यवस्था के पूरे तंत्र के लिए भरोसेमंद होना बहुत महत्वपूर्ण है और इसके लिए आम जन से पुलिस का संबंध और संवाद बेहतर होना चाहिए ताकि उनके बारे में अच्छी धारणा बने। मोदी ने कहा कि पिछले वर्षों में भारत सरकार के स्तर पर कानून व्यवस्था से जुड़े सुधार हुए हैं, जिसने पूरे देश में शांति का वातावरण बनाने का काम किया है।

उन्होंने कहा, ‘हमें प्रौद्योगिकी के लिए एक साझा मंच के बारे में सोचने की जरूरत है जिसे सभी के द्वारा साझा किया जा सके। राज्यों की सर्वश्रेष्ठ प्रथाओं को भी एक दूसरे से साझा किया जा सकता है। साइबर अपराध हो या फिर ड्रोन प्रौद्योगिकी का हथियारों और मादक पदार्थों की तस्करी में उपयोग, इनके लिए हमें नई प्रौद्योगिकी पर काम करते रहना होगा। स्मार्ट प्रौद्योगिकी से कानून-व्यवस्था को स्मार्ट बना पाना संभव होगा।’फर्जी खबरों के प्रवाह का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि ऐसी खबरों की सच्चाई सामने लाया जाना आवश्यक है और इसमें प्रौद्योगिकी की बड़ी भूमिका है। उन्होंने कहा, ‘ऐसी खबरों को जाचंने की प्रक्रिया या तंत्र के बारे में लोगों को जागरूक किया जाना जरूरी है ताकि किसी और से साझा करने से पहले वह उसे जांच सकें।’

इस शिविर में राज्यों के गृह मंत्रियों के अलावा वहां के गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक और केंद्रीय सुरक्षा बलों के महानिदेशक भी शामिल हुए। यह दो दिवसीय चिंतन शिविर प्रधानमंत्री द्वारा अपने स्वतंत्रता दिवस भाषण में घोषित ‘पंच प्राण’ के अनुसार आंतरिक सुरक्षा से संबंधित मामलों पर नीति निर्माण को राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य प्रदान करने का एक प्रयास है। इसका उद्देश्य सहकारी संघवाद की भावना से केंद्र और राज्य स्तर पर विभिन्न हितधारकों के बीच योजनाओं के क्रियान्वयन में अधिक तालमेल बिठाना है। शिविर में पुलिस बलों के आधुनिकीकरण, साइबर अपराध प्रबंधन, आपराधिक न्याय प्रणाली में सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) के बढ़ते उपयोग, भूमि सीमा प्रबंधन, तटीय सुरक्षा, महिला सुरक्षा, मादक पदार्थों की तस्करी जैसे मुद्दों पर विचार-विमर्श किया जा रहा है।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन



प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-383, (वर्ष-05)

2. शनिवार, अक्टूबर 29, 2022

3. शक-1944, कार्तिक, शुक्ल-पक्ष, तिथि-चतुर्थी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:25, सूर्यास्त: 05:44। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 21 डी.सै., अधिकतम-34+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी। 

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...