सोमवार, 28 नवंबर 2022

हत्याकांड: आफताब की वैन पर 4-5 लोगों का हमला 

हत्याकांड: आफताब की वैन पर 4-5 लोगों का हमला 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। श्रद्धा हत्याकांड केस के मुख्य आरोपी आफताब की वैन पर सोमवार को हमला हुआ है। पॉलीग्राफ टेस्ट के बाद एफएसएल टीम आफताब को लेकर बाहर निकली थी, तभी 4-5 लोगों ने गाड़ी पर हमला कर दिया। इन लोगों के हाथों में तलवारें थी और ये आफताब को मारने की बात कह रहे थे। तभी एक पुलिसकर्मी वैन से बाहर आया और इन लोगों पर बंदूक तान दी। हमला करने वाले शख्स ने बोला कि उसको दो मिनट बाहर निकालो, मार दूंगा।

जानकारी के मुताबिक लोग उसकी वैन के बाहर तलवारें लेकर खड़े थे। लोगों में श्रद्धा मर्डर केस के बाद से ही आफताब को लेकर भारी गुस्सा है। हमलावरों ने कहा कि अगर कोई ऐसा करता है तो हम उसे बख्शेंगे नहीं। 

पुलिस ने बचाव के लिए निकाली गन

आफताब फिलहाल पुलिस कस्टडी में है और उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस की बनती है। ऐसे में जब हमला हुआ तो पुलिस को भी आफताब के बचाव के लिए सरकारी गन निकाल कर हमलावरों को पीछे हटाना पड़ा। पुलिस अब इन हमलावरों की जांच में जुटेगी। पुलिस ने फिलहाल इन हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया है। सूत्रों ने बताया कि पूनावाला को पॉलीग्राफ जांच के लिए एफएसएल ले जाया गया था। पुलिस ने बताया कि वैन को मौके से हटा लिया गया है, हमलावरों को हिरासत में ले लिया गया है और हथियार जब्त कर लिए गए हैं। उन्होंने बताया कि घटना शाम को छह बज कर 45 पर हुई।

पूनावाला ने दक्षिण दिल्ली के महरौली स्थित मकान में वालकर की कथित रूप से गला दबा कर हत्या कर दी और उसके शरीर को 35 टुकड़ों में काटने के बाद 300 लीटर के फ्रिज में करीब तीन सप्ताह तक रखा, और फिर उन टुकड़ों को कई दिनों में शहर के अलग-अलग हिस्सों में फेंका। पुलिस ने पूनावाला को 12 नवंबर को गिरफ्तार किया, जिसके बाद उसे पांच दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा गया। पुलिस हिरासत को 17 नवंबर को पांच दिनों के लिए गढ़ा दिया गया।

अदालत ने 22 नवंबर को फिर से पूनावाला को चार दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा और उसके बाद 26 नवंबर को उसे 13 दिनों की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। पुलिस को अभी तक श्रद्धा वालकर की खोपड़ी और शरीर के अन्य हिस्से नहीं मिले हैं।

यूपी: शिक्षा की 2 दिवसीय बैठक 'विद्यालय' में संपन्न 

यूपी: शिक्षा की 2 दिवसीय बैठक 'विद्यालय' में संपन्न 


विद्या भारती सेवा क्षेत्र के शिक्षा की अखिल भारतीय स्तर की बैठक संपन्न

बृजेश केसरवानी 

प्रयागराज। विद्या भारती से संबद्ध काशी प्रांत के रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कॉलेज राजापुर प्रयागराज में विद्या भारती की योजना अनुसार सेवा क्षेत्र के शिक्षा की दो दिवसीय बैठक विद्यालय में संपन्न हुई, जिसमें 33 प्रांतों के 46 प्रतिनिधियों की उपस्थिति रही। विद्यालय के प्रधानाचार्य बांके बिहारी पांडे के संयोजन में आयोजित दो दिवसीय बैठक का उद्घाटन विद्या भारती शिक्षा संस्थान के अखिल भारतीय सह संगठन मंत्री यतींद्र कुमार शर्मा ने किया।

उन्होंने "प्रभावी एवं परिणामकारी शिक्षा एवं संस्कार केंद्रों" इस विषय पर अपना प्रभावी उद्बोधन दिया। उन्होंने बताया कि विद्या भारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान भारतवर्ष में चलने वाला सबसे बड़ा गैर सरकारी संगठन है, जो देश में 14500 विद्यालय एवं शिशु मंदिर तथा 13000 एकल शिक्षकीय विद्यालय एवं अनौपचारिक शिक्षा केंद्र संचालन करती है। यह अनौपचारिक शिक्षा केंद्र ग्रामीण क्षेत्रों , वनांचलो, सीमांत क्षेत्रों, गिरिकंदराओं एवं समुद्र तटीय क्षेत्रों में चलाए जाते हैं। जहां शिक्षा की नितांत आवश्यकता होती है वहां यह शिक्षा केंद्र निशुल्क चलाए जाते हैं। यह विद्या भारती का सेवा क्षेत्र कहलाता है।

दो दिन चली बैठक के विभिन्न सत्रों में अनौपचारिक संस्कार शिक्षा केंद्रों का पाठ्यक्रम, विस्तार एवं दृढीकरण आदि विषयों पर विस्तृत चर्चा हुई। अखिल भारतीय सेवा संयोजक रामस्वरूप शर्मा ने बताया कि संस्कार केंद्रों के प्रत्यक्ष दर्शन कार्यक्रम में प्रयागराज की विभिन्न बस्तियों में चलने वाले सेवा केंद्रों पर भारत के 33 प्रांतों से बैठक में आए विभिन्न भाषा बोलने वाले कार्यकर्ताओं ने अवलोकन किया तथा रात्रि के कार्यक्रमों में प्रांतों के अनुसार अपनी अपनी विशेषताओं सहित सेवा कार्यों की पीपीटी प्रस्तुत की।

संगीताचार्य एवं मीडिया प्रभारी मनोज गुप्ता ने बताया कि दो दिवसीय बैठक के अंतिम सत्र में अखिल भारतीय सेवा शिक्षा प्रभारी शिवप्रसाद एवं यतींद्र का "ध्येयनिष्ठ सेवा कार्यकर्ता" विषय पर प्रभावी प्रबोधन रहा। बैठक में क्षेत्रीय संगठन मंत्री पूर्वी उत्तर प्रदेश हेमचंद्र, संगठन मंत्री काशी प्रांत राम मनोहर एवं प्रांतीय निरीक्षक रामजी सिंह विषय प्रवर्तक के रूप में रहे। आए हुए समस्त अतिथियों एवं कार्यकर्ताओं का स्वागत विद्यालय के प्रधानाचार्य बांके बिहारी पांडे ने किया।

बैठक में प्रमुख रूप से प्रांतीय सेवा प्रमुख कमलाकर तिवारी, क्षेत्रीय शिशु वाटिका प्रमुख विजय उपाध्याय, प्रधानाचार्य युगल किशोर मिश्र,विद्यालय सेवा प्रमुख वाचस्पति चौबे सहित विद्यालय के समस्त शिक्षक एवं शिक्षिकाओं की उपस्थिति सराहनीय रही। कार्यक्रम का संचालन क्षेत्रीय सेवा शिक्षा संयोजक पूर्वी उत्तर प्रदेश एवं नेपाल योगेश ने किया।

फुले की पुण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित, विचार गोष्ठी

फुले की पुण्यतिथि पर श्रद्धा सुमन अर्पित, विचार गोष्ठी


सामाजिक क्रांति के अग्रदूत रहे महात्मा ज्योतिबा राव फूले की पुण्यतिथि के अवसर पर गोष्ठी का किया आयोजन।

गोपीचंद 

बागपत। बड़ौत नगर के आजाद नगर में कल्याण भारती सेवा संस्थान, संबंधता प्राप्त (ऑल इंडिया सैनी सेवा समाज) के  कार्यालय पर सामाजिक क्रांति के अग्रदूत महात्मा ज्योतिबा राव फुले की पुण्यतिथि के अवसर पर वैदिक यज्ञ के माध्यम से श्रद्धा सुमन अर्पित किए गए और उनके जीवन चरित्र व सामाजिक कार्यों और आदर्शों पर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। 

गोष्ठी में कल्याण भारती सेवा संस्थान के प्रबंध निदेशक वह जिला प्रतिनिधि (ऑल इंडिया सैनी सेवा समाज के जिला प्रतिनिधि) गोपी चन्द सैनी ने महात्मा ज्योतिबा राव फूले के जीवन चरित्र और कार्यों पर प्रकाश डालते हुए उनके लिए  भारत सरकार से भारत रत्न के  सम्मान की मांग कि और कहा कि यह सम्मान भारत के दलितों, वंचितो, शोषितों वह पिछड़े वर्गों के लिए भी सामाजिक जागरूकता और सम्मान का विषय है। इसी क्रम में मास्टर राजीव कुमार ने इस पर अपने विचार रखते हुए कहा कि महात्मा जीतिबा राव फूले एक महान सामाजिक शिक्षक के रूप में उस समय कल खण्ड में देव दूत के रूप में अपनी सक्रिय भूमिका और सूझ बूझ से अन्य सामाजिक कुरीतियों के निवारण के लिए अग्रणीय रहें हैं।

जिनके फलस्वरूप आज का शोषित, वंचित, दलित,पिछड़ा वर्ग आज स्वतंत्र रूप से अपना जीवन यापन करने में सक्षम हुआ है। गोष्ठी में उपस्थित सभी सम्मानित व्यक्तियों ने इस विषय पर अपने अपने विचार रखे। और संबंधित विषय पर कि गई मांग पीआर अपनी सहमति दी। कार्यक्रम में मास्टर राजकुमार रुहेला यज्ञ ब्रह्मा रहें और मास्टर राजीव कुमार और गोपी चन्द सैनी यजमान रहें। मास्टर सहनसरपाल, मास्टर कवरपाल शर्मा, रामकिशन, राजा धन गड, सुशील कुमार, विनीत कुमार, राजबीर, अन्य सम्मानित साथी मुख्य सहभागी के रूप में उपस्थित रहें।

अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में देरी, नाराजगी जताई 

अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में देरी, नाराजगी जताई 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए कॉलेजियम की ओर से अनुशंसित नामों को मंजूरी देने में केंद्र की ओर से देरी पर सोमवार को नाराजगी जताते हुए कहा कि यह नियुक्ति के तरीके को ‘‘प्रभावी रूप से विफल’’ करता है। न्यायमूर्ति एस के कौल और न्यायमूर्ति ए एस ओका की पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत की तीन न्यायाधीशों की पीठ ने नियुक्ति प्रक्रिया पूरी करने के लिए समय सीमा निर्धारित की थी।

पीठ ने कहा कि समय सीमा का पालन करना होगा। न्यायमूर्ति कौल ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि सरकार इस तथ्य से नाखुश है कि राष्ट्रीय न्यायिक नियुक्ति आयोग (एनजेएसी) अधिनियम को मंजूरी नहीं मिली, लेकिन यह देश के कानून का पालन नहीं करने की वजह नहीं हो सकती है। शीर्ष अदालत ने 2015 के अपने फैसले में एनजेएसी अधिनियम और संविधान (99वां संशोधन) अधिनियम, 2014 को रद्द कर दिया था, जिससे शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति करने वाले मौजूदा न्यायाधीशों की कॉलेजियम प्रणाली बहाल हो गई थी।

पीठ ने कहा, ‘‘तंत्र कैसे काम करता है?’’ पीठ ने कहा, ‘‘हम अपना रोष पहले ही व्यक्त कर चुके हैं।’’ न्यायमूर्ति कौल ने कहा, ‘‘यह मुझे प्रतीत होता है, मैं कहना चाहूंगा कि सरकार नाखुश है कि एनजेएसी को मंजूरी नहीं मिली।’’

एमसीडी चुनावों में 170 वार्डों पर जीतेगी 'भाजपा'

एमसीडी चुनावों में 170 वार्डों पर जीतेगी 'भाजपा'

अश्वनी उपाध्याय 

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के एक आंतरिक सर्वेक्षण के अनुसार, पार्टी अगले महीने होने वाले दिल्ली नगर निगम (एमसीडी) चुनावों में 250 वार्डों में से 170 पर जीत हासिल कर सकती है। पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने सोमवार को यह जानकारी दी। भाजपा की दिल्ली इकाई के मीडिया प्रमुख हरीश खुराना ने पीटीआई-भाषा को बताया कि 13 नवंबर से 25 नवंबर के बीच कराए गए इस सर्वेक्षण में 43,750 मतदाताओं को शामिल किया गया था। दिल्ली नगर निगम के सभी 250 वार्डों के लिए मतदान चार दिसंबर को होना है और वोटों की गिनती तथा परिणामों की घोषणा सात दिसंबर को होगी।

खुराना ने कहा, “सभी 250 वार्डों में किए गए सर्वेक्षण से पता चलता है कि भाजपा 170 सीटें जीतने जा रही है। 150 वार्ड ऐसे हैं जहां भाजपा बहुत मजबूत स्थिति में है, जबकि 20-25 अन्य वार्ड हैं जहां पार्टी को अन्य दलों पर बढ़त है।भाजपा की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने रविवार को चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि एमसीडी चुनाव में भाजपा 180 वार्डों में जीत हासिल करेगी। हालांकि आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने दावा किया है कि एमसीडी चुनाव में उनकी पार्टी 200 सीटों पर जीतेगी। उन्होंने यह भी दावा किया था कि भाजपा के हिस्से में 20 सीटें भी नहीं आएंगी।

चुनाव: रोड शो के दौरान 'सीएम' पर पत्थर फेंके

चुनाव: रोड शो के दौरान 'सीएम' पर पत्थर फेंके

अश्वनी उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/गांधीनगर। गुजरात में विधानसभा चुनाव नजदीक हैं। ऐसे में सभी पार्टियों के नेता जनसभाएं और रोड शो कर रहे हैं। आज आम आदमी पार्टी प्रमुख अरविंद केजरीवाल एक रोड शो कर रहे थे। इस दौरान उनेक ऊपर पत्थर फेंके गए। बता दें सीएम केजरीवाल सूरत में एक रोड शो कर रहे थे। बता दें इस रोड शो को मीडिया भी कवर कर रही थी, तो कैमरों पर भी पत्थर लगे। 

वहीं जब यह पत्थरबाजी शुरू हुई तो अरविंद केजरीवाल अपनी गाड़ी के अंदर चले गए और जब फिर से उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की गई तो वो दोबारा आकर रोड शो करने लगे। जानकारी के मुताबिक केजरीवाल के काफिले पर एक गली से पत्थर फेंके गए। केजरीवाल अपनी गाड़ी के ऊपर से हाथ हिला रहे थे। तभी अचानक पत्थरबाजी होने लगी। पत्थरबाजों और 'आप' समर्थकों के बीच झड़प भी हो गई। 

'नारी शक्ति' को मजबूत करने का शानदार तरीका 

'नारी शक्ति' को मजबूत करने का शानदार तरीका 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पिछले आठ वर्षों में देश में दूध उत्पादन में हुई वृद्धि पर सोमवार को खुशी जताई और कहा कि एक ‘जीवंत डेयरी क्षेत्र’ भी देश की “नारी शक्ति” को और मजबूत करने का एक शानदार तरीका है।प्रधानमंत्री मोदी ने यह टिप्पणी केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री परशोत्तम रूपाला के एक ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए की। रूपाला ने कहा था कि पिछले आठ वर्षों में दूध उत्पादन में ‘उल्लेखनीय वृद्धि’ हुई है। उन्होंने कहा था, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दूरदर्शी नेतृत्व में केवल 8 वर्षों में इसमें 83 मीट्रिक टन की वृद्धि हुई है।

इससे पहले 63 वर्षों में यह केवल 121 मीट्रिक टन बढ़ा था।’’ केंद्रीय मंत्री के ट्वीट को ‘टैग’ करते हुए मोदी ने लिखा, ‘‘यह विशेष खुशी की बात है। एक जीवंत डेयरी क्षेत्र भी हमारी नारी शक्ति को और मजबूत करने का एक शानदार तरीका है। आने वाले समय में डेयरी क्षेत्र और भी आगे बढ़े।’’

ट्वीट पर समस्याएं सुलझाना, क्या काम माना जाएगा ?

ट्वीट पर समस्याएं सुलझाना, क्या काम माना जाएगा ?

अखिलेश पांडेय/संदीप मिश्र 

वाशिंगटन डीसी/लखनऊ। माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के नए मालिक एलन मस्क की तर्ज पर उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा किया गया ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। दरअसल, एलन मस्क ने ट्वीट किया था, अगर...मैं ट्वीट करता हूं तो क्या इसे काम माना जाएगा? इसके बाद यूपी पुलिस ने मस्क को टैग कर ट्वीट किया था, अगर...यूपी पुलिस आपके ट्वीट पर समस्याएं सुलझाती है, तो क्या इसे काम माना जाएगा ?

दुनिया के सबसे अमीर शख्स एलन मस्क ट्विटर के नए बॉस बनने के बाद लगातार सुर्खियों में बने रहते हैं। वे इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहने लगे हैं। एलन मस्क अपने ट्विटर हैंडल से कोई भी ट्वीट करते हैं, तो उस पर प्रतिक्रिया की भरमार लग जाती है। हाल ही में उन्होंने एक ट्वीट किया, जो काफी वायरल हो रहा है। मजेदार बात ये है कि एलन मस्क के इस ट्वीट पर यूपी पुलिस ने कुछ ऐसा जवाब दिया, जो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है।

एलन मस्क ने अपने ट्वीट में लिखा, वेट, अगर मैं ट्वीट करता हूं, तो क्या यह मेरे काम में गिना जाएगा?  मस्क के इस ट्वीट पर यूपी पुलिस की नजर पड़ी। इसके बाद यूपी पुलिस ने इस ट्वीट के रिप्लाय में लिखा, वेट, अगर यूपी पुलिस ट्वीट पर आपकी प्रॉब्लम सॉल्व करती है, तो क्या वह काम माना जाएगा? यही नहीं, यूपी पुलिस ने अपने ट्विटर हैंडल से इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट भी शेयर किया। साथ ही लिखा, हां, यह माना जाएगा।" अब सोशल मीडिया पर यूपी पुलिस की यह पोस्ट जमकर वायरल हो रही है। 

गौरतलब है कि दुनिया के सबसे अमीर शख्स और ट्विटर के मालिक एलन मस्क सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। आये दिन वो अपने ट्विटर हैंडल से कुछ न कुछ ट्वीट करते हैं। इसके साथ ही एलन मस्क ट्वीट कर ट्विटर में नए बदलाव को लेकर भी जानकारी देते रहते हैं। इसी क्रम में शुक्रवार को एलन मस्क ने ट्वीट कर ऐलान किया कि ट्विटर वेरिफाइड सर्विस में जल्द ही बदलाव किया जाएगा। साथ ही बताया कि ट्विटर की वेरिफाइड सर्विस अगले हफ्ते से शुरू होने वाली है। उन्होंने बताया कि ट्विटर अब ब्लू रंग के अलावा दो और रंग के टिक मार्क शुरू करेगा। 

भारतीय स्टार्टअप में 5 करोड़ डॉलर का कोष, मंजूरी

भारतीय स्टार्टअप में 5 करोड़ डॉलर का कोष, मंजूरी

अकांशु उपाध्याय/सुनील श्रीवास्तव 

नई दिल्ली/एम्सटर्डम। नीदरलैंड स्थित सी4डी पार्टनर्स ने सोमवार को कहा कि उसे बाजार नियामक सेबी से भारतीय स्टार्टअप में निवेश के लिए पांच करोड़ डॉलर (करीब 408 करोड़ रुपये) का कोष शुरू करने की मंजूरी मिल गई है। सी4डी पार्टनर्स ने इससे पहले 2018 में 3.03 करोड़ डॉलर का अपना एशिया फंड पूरा किया था।

सी4डी पार्टनर्स ने एक बयान में कहा, ''कंपनी को हाल ही में भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड (सेबी) से पांच करोड़ अमेरिकी डॉलर के अपने पहले भारत फंड की मंजूरी मिली है।'' कंपनी ने कहा कि फंड के अगले साल के मध्य तक पूरा होने की उम्मीद है।

पीएम ने बहादुर को 'शहीदी दिवस' पर श्रद्धांजलि दी

पीएम ने बहादुर को 'शहीदी दिवस' पर श्रद्धांजलि दी

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को सिख गुरु तेग बहादुर को उनके 'शहीदी दिवस' पर श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उन्होंने अन्याय व अत्याचार के आगे झुकने से इनकार कर दिया था और उनकी शिक्षा देशवासियों को प्रेरित करती रहती हैं। साल 1621 में जन्मे नौवें सिख गुरु, गुरु तेग बहादुर को मुगल शासक औरंगजेब के आदेश पर मार दिया गया था। उनके शहादत दिवस को ‘शहीदी दिवस’ के रूप में भी जाना जाता है।

मोदी ने ट्वीट किया, “मैं श्री गुरु तेग बहादुर को उनकी शहादत के दिन श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। अदम्य साहस और सिद्धांतों के साथ-साथ आदर्शों के प्रति अटूट प्रतिबद्धता के लिए उन्हें दुनिया भर में सराहा जाता है।” उन्होंने कहा, “गुरु तेग बहादुर ने अत्याचार और अन्याय के आगे झुकने से इनकार कर दिया। उनकी शिक्षाएं हमें प्रेरित करती रहती हैं।” गुरु तेग बहादुर उस समय धार्मिक स्वतंत्रता के समर्थक थे, जब लोगों का जबरन धर्म परिवर्तन किया जा रहा था। मुगल सम्राट औरंगजेब के आदेश पर दिल्ली में 1675 में उनकी हत्या कर दी गई थी।

राजनीति का दौर, कांग्रेस में शामिल हुए व्यास

राजनीति का दौर, कांग्रेस में शामिल हुए व्यास

इकबाल अंसारी 

गांधीनगर/अहमदाबाद। गुजरात सरकार के पूर्व मंत्री जयनारायण व्यास सोमवार को कांग्रेस में शामिल हो गए। व्यास ने इस महीने की शुरुआत में भारतीय जनता पार्टी से इस्तीफा दिया था। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे की मौजूदगी में व्यास यहां पार्टी में शामिल हुए। राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत भी इस मौके पर मौजूद थे। गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले पांच नवंबर को व्यास ने भाजपा से इस्तीफा दिया था।

गहलोत व पायलट को कांग्रेस की 'संपत्ति' बताया 

गहलोत व पायलट को कांग्रेस की 'संपत्ति' बताया 

नरेश राघानी 

जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा कांग्रेस नेता सचिन पायलट को ‘‘गद्दार’’ कहे जाने को लेकर मचे बवाल के बीच पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को दोनों नेताओं को पार्टी की ‘‘संपत्ति’’ बताया और कहा कि किसी भी नेता की बयानबाजी का ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ पर कोई असर नहीं पड़ेगा। पायलट को गहलोत द्वारा ‘‘गद्दार’’ बताए जाने के बारे में प्रतिक्रिया मांगे जाने पर गांधी ने इंदौर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं इसमें नहीं जाना नहीं चाहता कि किसने क्या कहा। दोनों नेता (गहलोत और पायलट) कांग्रेस की संपत्ति हैं। मैं आपको इसकी गारंटी दे सकता हूं कि इसका (बयानबाजी का) ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ पर कोई असर नहीं पड़ेगा।’’

गौरतलब है कि गहलोत ने एक निजी चैनल को हाल में दिए साक्षात्कार में पायलट को ‘‘गद्दार’’ करार देते हुए कहा था कि उन्होंने वर्ष 2020 में कांग्रेस के खिलाफ बगावत की थी और गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार गिराने की कोशिश की थी इसलिए उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया जा सकता। गहलोत का यह बयान ऐसे वक्त आया है, जब राहुल गांधी के नेतृत्व में ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ की राजस्थान में दाखिल होने की तैयारियां हो रही हैं। गांधी ने इस बात का जवाब टाल दिया कि क्या मौका मिलने पर वह दोबारा अमेठी से चुनाव लड़ना चाहेंगे? उन्होंने कहा कि इस सवाल का जवाब साल-डेढ़ साल बाद मिल सकेगा और अभी उनका पूरा ध्यान ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ पर केंद्रित है।

उन्होंने कहा, ‘‘आप चाहते हैं कि अखबार कल यह बताएं कि मैं अमेठी से अगला चुनाव लडूंगा या नहीं? मैं चाहता हूं कि अखबार ‘‘भारत जोड़ो यात्रा’’ के फलसफे के बारे में लिखें।’’ गांधी ने कहा कि देश के तीन-चार उद्योगपतियों के हाथों में सारा धन केंद्रित होने से बेरोजगारी बढ़ रही है और कांग्रेस इस समस्या को हल करने के लिए छोटे उद्यमों को बढ़ावा देगी तथा शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्रों में निवेश करेगी।

चुनाव: सियासी जमीन को मजबूत करने की कोशिश 

चुनाव: सियासी जमीन को मजबूत करने की कोशिश 

इकबाल अंसारी 

गोधरा। सांप्रदायिक रूप से संवेदशील माने जाने वाले गुजरात के गोधरा में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) इस बार के विधानसभा चुनाव में अपनी सियासी जमीन को मजबूत करने की कोशिश में है। क्योंकि पिछले साल के निकाय चुनाव में उसने यहां असरदार दस्तक दी थी। 

असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी को उम्मीद है कि इस चुनाव में मुस्लिम मतदाताओं का भरपूर समर्थन मिलेगा और अन्य उम्मीदवारों के बीच मतों का बंटवारा होगा जिससे उसकी राह आसान हो सकती है। एआईएमआईएम ने पिछले साल हुए गोधरा नगरपालिका के चुनाव में सात सीटें हासिल की थीं और भाजपा को निकाय की सत्ता से दूर रखने के लिए निर्दलियों के साथ समझौता भी किया था। ओवैसी की पार्टी के समर्थन से निर्दलीय संजय सोनी फरवरी, 2021 में नगरपालिका के अध्यक्ष बने, लेकिन पिछले साल नवंबर में भाजपा का समर्थन मिलने के बाद उन्होंने एआईएमआईएम का साथ छोड़ दिया।

इस बार गोधरा विधानसभा सीट पर एआईएमआईएम अपनी पकड़ और मजबूत बनाने और जीतने की कोशिश कर रही है। फिलहाल यहां से भाजपा का विधायक है। साल 2002 में ट्रेन की बोगी में आग लगाए जाने की घटना के बाद पूर्वी गुजरात के पंचमहल जिले का यह कस्बा सुर्खियों में आया था। उस घटना में 59 कारसेवकों की मौत हुई थी जिसके बाद पूरे प्रदेश में हिंसा हुई थी जिससे 1000 से अधिक लोग मारे गए थे। गोधरा गुजरात की उन 14 विधानसभा सीटों में से एक है जहां एआईएमआईएम इस बार चुनाव लड़ रही है। 

ओवैसी ने यहां से अपने उम्मीदवार हसन शब्बीर कच्बा के समर्थन में एक बड़ी सभा को संबोधित किया था। भाजपा ने यहां अपने वर्तमान विधायक सीके राउलजी को टिकट दिया है। कांग्रेस ने रश्मिताबेन चौहान और आम आदमी पार्टी ने राजेश भाई पटेल को उम्मीदवार बनाया है। एआईएमआईएम के पार्षदों का आरोप है कि गोधरा की मुस्लिम बहुल बस्तियों को विकास से उपेक्षित रखा गया था तथा लोगों को सड़क, साफ-सफाई और पानी की बुनियादी सुविधाएं नहीं मिल पा रही थीं। 

पार्षद फैसल सुलेजा कहते हैं, पहले, विकास हुआ है, लेकिन सिर्फ 50 प्रतिशत इलाके में। यह दूसरी तरफ (हिंदू और अन्य समुदायों की आबादी वाले इलाके) में हुआ है। एआईएमआईएम के एक अन्य पार्षद इसहाक एम गनचीभाई कहते हैं कि उनकी पार्टी के पार्षदों ने यह सुनिश्चित किया कि विकास का पैसा समान रूप से सभी इलाकों को मिले। 

गोधरा विधानसभा में करीब 2,79,000 मतदाता हैं जिनमें 72,000 मुस्लिम हैं। गनचीभाई का कहना है कि अगर मुस्लिम मतदाताओं ने एकश्मुकत समर्थन कर दिया तो बहुकोणीय मुकाबले में एआईएमआईएम की जीत पक्की है। हालांकि, निकाय चुनाव निर्दलीय लड़ चुकीं सोफिया अनवा जमाल का कहना है कि एआईएमआईएम सिर्फ वोटों का बंटवारा करेगी जिसका फायदा आखिरकार भाजपा को होगा।

राज्य के 2 नए जिले बनाने की घोषणा करेगी सीएम 

राज्य के 2 नए जिले बनाने की घोषणा करेगी सीएम 

मिनाक्षी लोढी 

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी 29 नवंबर को होने वाली एक प्रशासनिक बैठक के दौरान सुंदरबन और बशीरहाट को राज्य के दो नए जिले बनाने की आधिकारिक घोषणा कर सकती हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी सोमवार को दी। अधिकारी ने बताया कि दोनों जिलों को दक्षिण और उत्तर 24 परगना जिलों से अलग किया जाना है। अधिकारी ने बताया, दो नए जिले बनाने के लिए सभी आवश्यक कार्य पूरे कर लिए गए हैं। मुख्यमंत्री कल हिंगलगंज में प्रशासनिक बैठक के दौरान इनके नामों की घोषणा कर सकती हैं। बता दें कि वर्तमान में पश्चिम बंगाल के जिलों की कुल संख्या 23 है।

मुख्यमंत्री ने सोमवार को सुंदरबन के मैंग्रोव क्षेत्र के अपने तीन दिवसीय दौरे की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि सुंदरबन जिले में दक्षिण 24 परगना के लगभग 13 ब्लॉक होने की संभावना है, जबकि बशीरहाट में उत्तर 24 परगना के छह ब्लॉक हो सकते हैं। सुंदरबन यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल है और वर्तमान में उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिलों में फैला हुआ है, जबकि बशीरहाट उत्तर 24 परगना का एक उप-मंडल है। पश्चिम बंगाल में वर्तमान में 23 जिले हैं। 

अधिकारी ने कहा कि राज्य को प्रत्येक जिला बनाने के लिए कम से कम 200 करोड़ रुपये का खर्च उठाना होगा। उन्होंने कहा कि बनर्जी निवासियों को हाथियों के हमलों से बचाने के लिए हिंगलगंज में पूजा करेंगी। ममता ने 25 नवंबर को विधानसभा में कहा था, मैं हिंगलगंज में प्रकृति पूजा करूंगी। हाथी के हमले बढ़ गए हैं, क्योंकि हाथी भोजन की तलाश में जंगलों से बाहर आ रहे हैं। उन्होंने सुंदरबन में हर साल चक्रवात और बाढ़ जैसी प्राकृतिक आपदाओं का सामना किये जाने पर भी चिंता व्यक्त की थी और कहा था कि उनकी सरकार ने नीति आयोग को क्षेत्र के विकास के लिए एक मास्टर प्लान प्रस्तुत किया है। 

उन्होंने कहा था, हमने नीति आयोग को सुंदरबन के लिए एक मास्टर प्लान प्रस्तुत किया है। हर साल, चक्रवात और बाढ़ आती है। यदि एक मास्टर प्लान होगा, तो समस्या हल हो जाएगी। मैं वन मंत्री से इस मामले को और गंभीरता से देखने के लिए कहूंगी। बनर्जी बुधवार को दक्षिण 24 परगना में सजनेकहली का दौरा करने वाली हैं। 

गांधी का धैर्य बढ़ाने में मददगार साबित हुई 'यात्रा'

गांधी का धैर्य बढ़ाने में मददगार साबित हुई 'यात्रा'

अकांशु उपाध्याय/मनोज सिंह ठाकुर 

नई दिल्ली/इंदौर। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को कहा कि 'भारत जोड़ो यात्रा' उनका धैर्य बढ़ाने में भी मददगार साबित हुई है। मध्यप्रदेश में छठवें दिन इंदौर के समीप बरौली में भारत जोड़ो यात्रा पहुंचने पर श्री गांधी ने पत्रकार वार्ता को संबोधित किया। इस दौरान उनसे पिछले 80 दिनों से अधिक समय से चल रही यात्रा से जुड़े सुखद और रोचक प्रसंगों के बारे में पूछा गया था।

गांधी ने कहा कि यात्रा के दौरान वे सबको ध्यान से सुनते हैं और उनका सुनने का तरीका भी बदल गया है। वे पहले एक दो घंटे में ही ''इरिटेट'' (चिढ़ना या झल्लाना) हो जाते थे, लेकिन अब वे आठ-आठ घंटे तक लोगों को धैर्य से सुन लेते हैं। गांधी ने कहा कि अब जब वे किसी को सुनते हैं, तो सामने वाली की सोच काे ध्यान में रखकर सुनने का प्रयास करते हैं।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने यात्रा से जुड़े अन्य प्रसंग सुनाते हुए कहा कि यात्रा की शुरूआत में उनके घुटने का पुराना दर्द उभर आया था। उस समय उनके मन में तरह तरह के विचार आए। लेकिन वे उस दर्द से नहीं डरे और इसकी आदत डालते हुए चलते रहे। बाद में यह दर्द भी चला गया और वे लगातार यात्रा करते रहे। वे कन्याकुमारी से इंदौर तक लगभग दो हजार किलोमीटर की यात्रा कर चुके हैं और यह यात्रा कश्मीर तक जाएगी।

गांधी ने दावा करते हुए कहा कि पदयात्रा के दौरान ही एक लगभग छह वर्ष की बालिका उनसे कुछ दूरी पर रहकर मिलना चाह रही थी। वे उसको नोटिस कर रहे थे। तभी उन्होंने बालिका काे अपने पास बुलाया। उसने कागज में कुछ लिखकर रखा था, जो उसने उन्हें यह कहते हुए थमा दिया कि वे उसे बाद में पढ़ें। गांधी के मुताबिक कुछ देर बाद उन्होंने कागज खाेला ताे उसमें लिखा था कि वह भी उनकी इस यात्रा के साथ है। संभवत: यह घटना कर्नाटक की थी। उन्होंने कहा कि इस तरह के अनेक प्रसंग इस यात्रा से जुड़े हैं। गांधी इस यात्रा को पूरी तरह ''गैरराजनैतिक'' बता रहे हैं। उनका कहना है कि वे डर, हिंसा और नफरत के खिलाफ इस यात्रा को निकाल रहे हैं और इन्हीं बिंदुओं को ध्यान में रखकर आम लोगों की बात सुन रहे हैं और उन्हें सुना रहे हैं।

गांधी राजनीति और महत्वपूर्ण प्रश्नों पर काफी संभलकर बोलते हुए दिखे। अमेठी से उनके फिर से लोकसभा चुनाव लड़ने समेत अनेक राजनैतिक प्रश्नों को वे चतुराई से टालते गए और कहा कि उनका ध्यान अभी भारत जोड़ो यात्रा पर ही है। श्री गांधी की यात्रा का आज मध्यप्रदेश में छठवां दिन है। सोमवार शाम को यह यात्रा उज्जैन के समीप तराना तक पहुंच जाएगी। यात्रा आज उज्जैन में रहेगी।

कैलेण्डर वर्ष 2019 के कृति पुरस्कारों की घोषणा 

कैलेण्डर वर्ष 2019 के कृति पुरस्कारों की घोषणा 

मनोज सिंह ठाकुर 

भोपाल। मध्यप्रदेश संस्कृति विभाग की साहित्य अकादमी द्वारा कैलेण्डर वर्ष 2019 के कृति पुरस्कारों की घोषणा कर दी गई है। इसमें 13 अखिल भारतीय जबकि 15 प्रादेशिक कृति पुरस्कार शामिल हैं। एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। मध्यप्रदेश जनसंपर्क विभाग के एक अधिकारी ने सोमवार को बताया कि अखिल भारतीय पुरस्कार में प्रति रचनाकार को एक लाख रूपये एवं प्रादेशिक पुरस्कार में प्रति रचनाकार को 51,000 रूपये के साथ शॉल, श्रीफल, स्मृति-चिन्ह और प्रशस्ति के साथ अलंकृत किया जाता है।

अधिकारी ने बताया कि अखिल भारतीय पंडित माखनलाल चतुर्वेदी (निबंध) पुरस्कार डॉ. मनोज पाण्डेय, नागपुर की कृति आलोचना के नये परिप्रेक्ष्य को दिया गया है, जबकि अखिल भारतीय गजानन माधव मुक्तिबोध (कहानी) सच्चिदानंद जोशी, दिल्ली की कृति "पल भर की पहचान'' को दिया गया है।

अधिकारी ने बताया कि अखिल भारतीय राजा वीरसिंह देव (उपन्यास) प्रोफेसर मनीषा शर्मा, अमरकंटक की कृति ये इश्क... को, अखिल भारतीय आचार्य रामचन्द्र शुक्ल (आलोचना) डॉ. कविता भट्ट, उत्तराखण्ड की कृति भारतीय साहित्य में जीवन मूल्य को, अखिल भारतीय पंडित भवानी प्रसाद मिश्र (गीत एवं हिन्दी गजल) डॉ. आर. पी. सारस्वत, सहारनपुर की कृति "तुम बिन को और अखिल भारतीय अटल बिहारी वाजपेयी (कविता) डॉ. इन्दु राव, हरियाणा की कृति छांह संस्कृति की'' को दिया गया है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा, अखिल भारतीय कुबेरनाथ राय (ललित निबंध) राजेश जैन, दिल्ली की कृति ईश्वर की आत्मकथा को, अखिल भारतीय विष्णु प्रभाकर (आत्मकथा जीवनी) डॉ. कुलदीप चंद अग्निहोत्री, मोहाली की कृति श्री गुरु नानक देवजी को, अखिल भारतीय निर्मल वर्मा (संस्मरण) प्रो. सूर्यप्रकाश चतुर्वेदी, इंदौर की कृति बदलती हवाएँ' को, अखिल भारतीय महादेवी वर्मा (रेखाचित्र) प्रशांत पोल, जबलपुर की कृति वे पंद्रह दिन को, अखिल भारतीय प्रोफेसर विष्णुकांत शास्त्री (यात्रा-वृत्तांत) डॉ. सुधा गुप्ता 'अमृता', कटनी की कृति "चलें भ्रमण की ओर को, अखिल भारतीय भारतेन्दु हरिश्चन्द्र (अनुवाद) संतोष रंजन, भोपाल की कृति थेल्मा मेरी कोरिली को और अखिल भारतीय नारद मुनि (फेसबुक/ब्लाग /नेट) पुरस्कार अजय जैन 'विकल्प',इंदौर को उनके पेज फेसबुक,ब्लॉग व नेट को दिया गया है।

अधिकारी ने बताया कि इन 13 अखिल भारतीय कृति पुरस्कारों के अलावा 15 प्रादेशिक कृति पुरस्कारों की घोषणा भी की गई है, जिनमें वृन्दावन लाल वर्मा (उपन्यास) पुरस्कार डॉ. अश्विनी कुमार दुबे, इंदौर की कृति "किसी शहर में'' और सुभद्रा कुमारी चौहान (कहानी) डॉ. गरिमा संजय दुबे, इंदौर की कृति "दो ध्रुवों के बीच की आस'' शामिल हैं।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-48, (वर्ष-06)

2. मंगलवार, नवंबर 29, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, शुक्ल-पक्ष, तिथि-षष्ठी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:45, सूर्यास्त: 05:25। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 12 डी.सै., अधिकतम- 24+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय'

गणतंत्र दिवस    'संपादकीय' 'भारत' देश है हमारा, संविधान पर विवाद नहीं। 'सभ्यता' सबसे पहले आई, ...