शुक्रवार, 8 मई 2020

दलों ने राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र

नई दिल्ली। वाम दलों के नेतृत्व में सात विपक्षी दलों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर कोरोना महामारी के शिकार गरीब लोगों की सुरक्षा, कल्याण तथा आजीविका के लिए कार्रवाई करने की मांग की है। पत्र में श्रम कानूनों में किये जा रहे बदलाव की तीखी आलोचना भी की गई है।


माकपा, भाकपा, फारवर्ड ब्लॉक, भाकपा (माले) रिवोल्यूशनरी सोशलिस्ट पार्टी, राष्ट्रीय जनता दल आदि ने राष्ट्रपति कोविंद को लिखे पत्र में कहा है कि एक तरफ तो कोरोना के कारण लॉकडाउन होने से मजदूर, किसान तथा वंचित समाज के लोग बुरी तरह परेशान हैं और उन्हें सैकड़ों किलोमीटर दूर पैदल चलकर अपने गांव वापस जाना पड़ रहा है। सरकार ने उनकी सुरक्षा के लिए पर्याप्त इंतजाम नहीं किए हैं और न ही उन्हें मुफ्त राशन देने की व्यवस्था की है।


दूसरी तरफ महाराष्ट्र में 17 गरीब लोग ट्रेन से कटकर मर गये हैं तथा विजाग में गैस लीक की घटना के कारण 12 लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसी स्थिति में सरकार 44 श्रम कानूनों में परिवर्तन कर उन्हें 4 कोड में बदल रही है जो पूरी तरह से श्रम विरोधी और संविधान विरोधी है। सरकार ने कार्यपालिका के आदेश के जरिए श्रमिकों के काम के घंटे आठ घंटे से बढ़ाकर 12 घंटे कर दिए हैं जो कि पूरी तरह गैर कानूनी है और हरियाणा, गुजरात, पंजाब, महाराष्ट्र, हिमाचल प्रदेश तथा राजस्थान जैसे राज्यों में फैक्ट्री कानून को बदले बिना यह बदलाव लागू किए जा रहे हैं। इतना ही नहीं उत्तर प्रदेश में तीन साल के लिए सभी श्रम कानूनों को निरस्त कर दिया गया है जबकि मध्यप्रदेश में 1000 दिन के लिए इन कानूनों को निरस्त किया गया है। एक तरफ तो सरकार ‘आपके द्वार सरकार’ का नारा लगाती है और दूसरी तरफ इन मजदूरों को बुनियादी अधिकारों से वंचित कर रही है और उनके अधिकारों को छीन रही है। उन्होंने राष्ट्रपति कोविंद से अपील की है कि वे इन गरीब मजदूरों की रक्षा के लिए तत्काल हस्तक्षेप करें और संवैधानिक मूल्यों को अक्षुण्ण रखें।


उत्तर-कोरिया का चीन को मिला समर्थन

प्योंगयांग/ बिजिंग। कोरोना वायरस पर अमेरिका से तरकार के बीच चीन को एक तरह से उसके दोस्त का साथ मिला है। उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने कोरोना वायरस वैश्विक महामारी को नियंत्रण में लाने में सफलता के लिए चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की प्रशंसा करते हुए उन्हें एक निजी संदेश भेजा है।


उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया में यह खबर तब आई है, जब दक्षिण कोरिया की खुफिया एजेंसी ने आकलन किया कि इस महामारी से पहले से ही जर्जर उत्तर कोरिया की अर्थव्यवस्था और बदतर हो गई है। उत्तर कोरिया अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर अमेरिका की अगुवाई में अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों का सामना कर रहा है और इसके चलते उसकी आर्थिक स्थिति बहुत खराब है। कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने बताया कि किम ने संदेश में शी को ”बधाई देते हुए इस अभूतपूर्व वैश्विक महामारी के खिलाफ युद्ध जीतने के लिए उनकी अत्यधिक प्रशंसा की। यह स्पष्ट नहीं है कि यह संदेश कब भेजा गया। किम जोंग उन का यह संदेश इसलिए भी खास है क्योंकि किम जोंग उन की हाल ही में बीमार होने की खबर आई थी और फिर चीन ने अपनी मेडिकल टीम को भी भेजा था। बता दें कि चीन, उत्तर कोरिया का सबसे करीबी सहयोगी और उसकी आर्थिक जीवन रेखा है। वहीं, अमेरिका लगातार कोरोना वायरस को लेकर चीन पर हमलावर है। वह चीन को बार-बार कोरोना वायरस के लिए जिम्मेदार ठहरा रहा है। अमेरिका का आरोप है कि चीन ने इस वायरस के बारे में दुनिया से जानकारी छुपाता रहा। वहीं चीन इन आरोपों से इनकार करता रहा है।


उत्तराखंड में धारचूला-लिपूलेख का निर्माण

नई दिल्ली। कैलाश मानसरोवर यात्रा श्रद्धालुओं के लिए पहले के मुकाबले काफी सुगम होने जा रही है। सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने उत्तराखंड में धारचूला-लिपूलेख मार्ग का निर्माण किया है, जिससे यात्रा में समय भी कम लगेगा, क्योंकि लोगों को कठिन रास्ते पर सफर नहीं करना पड़ेगा।


रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने आज इस मार्ग का उद्घाटन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया है। बीआरओ ने 80 किलोमीटर की इस सड़क से धारचूला को लिपुलेख से जोड़ा है। यह विस्तार 6000 से 17060 फीट की ऊंचाई पर है। नई सड़क पिथौरागढ़-तवाघाट-घटीअबागढ़ मार्ग का विस्तार है।जानकारी देने वाले एक अधिकारी ने कहा, ”लिपूलेख रूट 90 किलोमीटर का ऊंचाई वाला ट्रैक था। अधिक उम्र के यात्रियों को यहां बहुत मुश्किल होती थी। अब यह यात्रा वाहनों से की जा सकती है। लोगों को अब 5-6 दिन तक चढ़ाई करने की जरूरत नहीं है।” यात्रा के लिए दो रूट हैं। एक लिपुलेख से और दूसरा सिक्किम में नाथुला से। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया, ”मानसरोवर यात्रा के लिए आज एक लिंक रोड का उद्घाटन करके खुशी हुई। बीआरओ ने धारचूला से लिपूलेख (चीन बॉर्डर) को जोड़ने की उपलब्धि हासिल की है, इसे कैलाश मानसरोवर यात्रा रूट के नाम से जाना जाता है। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वाहनों के एक जत्थे को पिथौरागढ़ से गुंजी के लिए रवाना किया।” बीआरओ के बधाई देते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि संगठन ने पिछले कुछ सालों में सीमांत इलाकों को जोड़ने का बेहतरीन काम किया है। बीआरओ चीफ लेफ्टिनेंट जनरल हरपाल सिंह ने कहा कि अधिक ऊंचाई, भारी बर्फबारी और साल में केवल 5 महीने काम करने लायक होने की वजह से इस सड़क का निर्माण बहुत चुनौतीपूर्ण था।


हिमाचलः17 मई तक बस सेवा बंद

शिमला। हिमाचल प्रदेश में आज कैबिनेट बैठक में यह भी निर्णय लिया गया है कि हिमाचल प्रदेश में एक जिले से दूसरे जिले व लोकल रूटों पर आगामी 17 मई तक सार्वजनिक परिवहन सेवाएं शुरू नहीं होंगी। ऐसे में लोगों के स्वंय जुगाड़ करना होगा। वहीं, कोरोना के चलते वित्तीय संकट से जूझ रही टूरिज्म इंडस्ट्री के लिए जयराम सरकार ने राहत दी है।


होटल मालिकों को सहकारी बैंकों से सस्ती दरों पर ऋण दिलाया जाएगा। करीब तीन हजार से ज्यादा होटलों और इतने ही होम स्टे व गेस्ट हाउसों के कर्मचारियों और प्रबंधन को इससे राहत मिलेगी। साथ ही टैक्स अदा करने वालों को सरकारी डिपो से सस्ता राशन देने की केबिनेट ने फैसला लिया है। चंबा के बाद कांगड़ा शाहपुर में युवक आया कोरोना पॉजिटिव, दिल्ली से आया था घर
साथ उन्होंने बताया कि प्रदेश में अभी लॉकडाउन के साथ कर्फ्यू भी जारी रहेगा। क्योंकि प्रदेश में बाहरी राज्यों से आज रहे कोरोना के मामलों के देखते हुए प्रदेश सरकार ने यह फैसला लिया है। राज्य में अब तक 47 कोरोना पॉजिटिव मामले आ चुके हैं।


हिमाचलः दो घंटे के लिए कर्फ्यू में ढील

शिमला। हिमाचल प्रदेश में आज कैबिनेट बैठक के बाद विभिन्न प्रकार के कानून लागू किए गए है। जिसमें पूरे प्रदेश में कर्फ्यू में ढील का समय भी दो घंटे बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। जिसके तहत अब प्रदेश में सात घंटे कर्फ्यू में ढील दी जाएगी। ढील देने का समय संबंधित जिले के उपायुक्त निर्धारित करेगें।


 ऊना में सुबह सात बजे से शाम तीन बजे तक दुकाने खुली रहेगी इस दौरान जिले में दूध, बे्रड, सब्जियों की दुकानें ही खुली रहेगी। वही सिरमौर जिले में अब सुबह नौ बजे से शाम चार बजे तक दुकानें खुलेंगी। किन्नौर में सुबह दस से शाम पांच बजे तक दुकानें खुलेंगी। वहीं चंबा में भी दो घंटे का समय बढ़ाया गया है। बाकि जिलों का समय कल तक निर्धारित किया जाएगा।


अमेठी में 2 और मिलें वायरस पॉजिटिव

जगदीशपुर-अमेठी। ग्रीन जोन में रही अमेठी में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ने लगी है दो और लोग शुक्रवार कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिलाधिकारी अरुण कुमार ने इसकी पुष्टि की है।


मंगलवार को मुसाफिरखाना के एएच इंटर कॉलेज में क्वॉरेंटाइन किए गए 28 लोगों में से एक 48 वर्षीय महिला की जांच रिपोर्ट पहले ही पॉजिटिव आई थी 24 घंटे बाद दो और पॉजिटिव मरीज मिलने से जिले में हड़कंप मच गया था। जिसे उस क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। जिसके बाद जिला प्रशासन के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गयी है। बाजारशुक्ल क्षेत्र ‌के अन्तर्गत शेल्टर होम में क्वोरेन्टाइन किये गये लोगों की जांच के लिए लखनऊ भेजे गए 24 लोगो मे दो की शमीम 33 और जुबैर 25 की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। दोनो को इलाज के लिए सुल्तानपुर के कुड़वार स्थित L1 कोविड हास्पिटल भेजा जा गया है। मुंबई से लौटे दोनों लोगो को शुकुल बाजार के शेल्टर होम में क्वोरेनटीन किया गया था जनपद अमेठी के विकासखंड बाजार शुक्ल के अन्तर्गत ग्राम बदलगढ़ में दो कोरोना पॉजिटिव केस मिलने पर जिलाधिकारी अरुण कुमार ने ग्राम बदलगढ़ सहित आसपास के एरिया को दिनांक 8 मई 2020 से 14 मई 2020 तक आवश्यक सेवाओं को छोड़कर अस्थाई रूप से प्रतिबंधित करने के निर्देश जारी कर दिये है।


रिपोर्ट-शिवकेश शुक्ल


राष्ट्रपिता गांधी की पुत्रवधू का निधन

सूरत। महात्मा गांधी की पौत्रवधू शिवालक्ष्मी का निधन हो गया है। पारिवारिक सूत्रों के अनुसार महात्मा गांधी के पौत्र कनुभाई गांधी की पत्नी शिवा लक्ष्मी ने ग्लोबल हॉस्पिटल में गुरुवार रात अंतिम सांस ली। वह 94 साल की थीं और पिछले लंबे समय से बीमार थीं। उनका अंतिम संस्कार उमरा के श्मशान गृह में आज किया गया।


उल्लेखनीय है कि महात्मा गांधी के तीसरे पुत्र रामदास के पुत्र कनुभाई के साथ शिवालक्ष्मी 2013 में विदेश से भारत आई थीं। कनुभाई और उनकी पत्नी दिल्ली के आश्रम में कुछ दिन रहने के बाद 2014 में सूरत आ गये थे। कनुभाई पत्नी शिवालक्ष्मी के साथ सूरत के एक वृद्धाश्रम में रहते थे। कनुभाई गांधी अमेरिका की अंतरिक्ष विज्ञान एजेंसी नासा में 25 साल वैज्ञानिक रहे। उनका 2016 में निधन हो गया था। शिवा लक्ष्मी ने गरीब बच्चों के लिए ‘शिवा लक्ष्मी कनुभाई रामदास गांधी’ नामक ट्रस्ट बनाया था।


उत्तराखंड में आज संक्रमित संख्या-63

कोरोना संक्रमितों की संख्या में हुई बढ़ोतरी।


आंकड़ा बढ़कर 63 पहुंचा


देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है। आज प्रदेश में कोरोना के दो नए मरीज सामने आए है। जिनमें से एक मरीज उधमसिंह नगर का है, और दूसरा हरिद्वार का है। इन दो नए मरीजों के सामने आने से अब प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 63 हो चुकी है।


हरिद्वार के मरीज की एम्स भेजी गयी सैम्पल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसके अलावा उधम सिंह नगर के मरीज की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। गौरतलब है कि, अब तक 8,548 सैंपल प्राप्त हो चुके हैं। जिनमे से इनमें से 8,485 सैंपल की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।


जनपद में बनायी जायेगी 37 बाढ चौकियां

बोले: एक सप्ताह में अपनी कार्ययोजना उपलब्ध करायें सम्बंधित अधिकारी


जनपद में बनायी जायेगी 37 बाढ चौकियां


मिर्जापुर। जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार मे बाढ प्रबन्धन योजना वर्ष-2020 की तैयारी के सम्बन्ध फ्लड स्टीयरिंग समिति की बैठक आहूत की गयी, जिसमें जनपद में बाढ के समय बचाव के लिये आवष्यक प्रबन्ध किया जा सके। इस अवसर पर बताया गया कि जिलाधिकारी की अध्यक्षता में फ्लड स्टीयरिंग कमेटी का गठन कर लिया गया जिसमें पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला बाढ राहत अधिकारी, जिला कृषि अधिकारी, जिला पूर्ति अधिकारी,अधिषाशी अभियन्ता सार्वजनिक निर्माण विभाग, अधिषासी अभियन्ता विद्यत, अधिषाशी अभियन्ता एवं समन्वयक अधिकारी बाढ के अलावा अधिषाशी अभ्यिन्ता जलनिगम सदस्य नामित किये गये हैं। जिलाधिकारी सुषील कुमार पटेल ने सभी नगर पालिकाओं/नगर पंचायतों के अधिषाशी अधिकारी को निर्देशित किया कि वे जून के प्रथम सप्ताह तक अपने-अपने क्षेत्र के नालियों/नालों की सफाई प्रत्येक दषा में सुनिष्चिक करा ले, ताकि कहीं वर्शा के कारण जलजमाव न होने पाये और वर्षा का पानी सुगमता से निल जाय। उन्होंने बाढ प्रभावित क्षेत्र के उप जिलाधिकारी चुनार व सदर को भी निर्देषित करते हुये कहा कि बाढ की स्थिति से निपटने के लिये ऐसी जगहों को चिन्हित कर जन निकासी की समुचित व्यवस्था सुनिष्चित करायें, इसके अलावा अधिषाशी अभियन्ता सिंचाई खण्ड चुनार भी ड्रेनो की सफाई षीध्र करा लें। जिलाधिकारी ने कहा कि जिला एवं तहसील स्तर पर तथा सिंचाई विभाग फतहां में भी बाढ नियंत्रण कक्ष खोला जाये तथा संचार व्यवस्था सुनिष्चित की जाये जो आगामी 15 जून 2020 से 31 अक्टूबर 2020 तक दिन रात 24 घंटा कार्य करेगा तथा वहां पर 8-8 घंटे की तीन षिफ्टों में कर्मचारियों की ड्यूटी लगायी जायें। जिलाधिकारी ने सम्बंधित उप जिलाधिकारी व खण्ड विकास अधिकारियों से कहा कि बाढ प्रभावित क्षेत्रों में बचाव के लिये षेल्डर होम पहले से ही चिन्हित कर ली जाये ताकि बाढ प्रीावित लोगों को वहां पर सुरक्षित रखा जा सके, उन्होंने षेल्डर होम में खाना बनाने, षौचालय, पेयजल आदि की समुचित व्यवस्था पहले से कर ली जाये। कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों व बाजारों में नालियों की सफाई, मच्छर रोधक दवाइयों का छिडकाव अभी से प्रारम्भ् करा दिया जाये। विद्यत विभाग बाढ वाले क्षेत्रों में ढीले विद्यत तारों का टाइट करा लें तथा जो खम्भे सही न हो उस दुरूस्त करा लिया जाये। मुख्य पषु चिकित्साधिकारी पषुओं के लिये पर्याप्त मात्रा में चारा की व्यवस्था तथा बाढ से बचाव हेतु स्थल का चिल्हांकन कर लें। अपर जिलाधिकारी व अपर मुख्य अधिकारी नावों, गोताखोर तथा उनका मोबाइल नम्बर, महाजाल, घाट दरोगा, गैग मैन, आदि की व्यवस्था सुनिष्चित करायेगें। इसी प्रकार बाड राहत चौकियों पर राहत सामग्री ले जाने वाले मार्गो की बाड से पूर्व मरम्मत एवं नावों का परीक्षण, कुषल नाविको की ड्यूटी आदि सुनिष्ष्चित करा लें। षान्ति व्यवस्था के लिये अपर पुलिस अधीक्षक प्रकाष स्वरूप पाण्डये से कहा कि बाढ राहत केन्द्रों, षरणालयों एवं बाड चौकियों पर षन्ति व्यवस्था बनाये रखने हेतु पर्यापत पुलिस बल की तैनाती की जायगी। यह भी कहा कि बाढ से क्षति आकलन का कार्य जिला कृशि अधिकारी द्वारा किया जायेगा तथा फसल से क्षति का विवरण अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 को प्रतिदिन उपलब्ध करायेगें। इसी प्रकार मुख्य चिकित्साधिकारी स्वास्थ्य सुविधाओं के दृश्टिगत पर्याप्त मात्रा में जीवन रक्षक दवाओं की व्यवस्था तथा बाढ चौकियों पर चिकित्साकों की तैनाती सुनिष्चित करेगें। खेज,बीन व बचाव कैपसिटी बिलि्उंग प्रोग्रम के अन्तर्गत खोज एवं बचाव सम्बंधी उपकरण यथा- सर्चलाइट, लाइफ जैकेट, मेंगा फोन, फोल्डेबुल स्ट्रेचर, फस्ट एण्ड किट, सेफ्टी हेलमेट, फायर एक्सटिनग्यूसर, जरीकेन आदि की व्यवस्था कराकर अपर जिलाधिकारी उप जिलाधिकारी चुनार व सदर को उपलब्ध करायेगें ताकि बाढ आने पर स्थिति में उसका प्रभावी उपयोग किया जा सके।


इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी वि0/रा0/प्रभारी दैवीय आपदा अधिकारी यूपी सिं ने जिलाधिकारी को बताया कि जनपद में जनपद में कुल 10 प्रमुख नदियां हैं जिनमें तहसील लालगंज में बेलन नदी, बकहर नदी, अदवा नदी, घोरी नदी तथा सुखनई नदी, तहसील चुनार में जरगो नदी, गरई नदी, एवं पहिती नदी, तहसील मडिहान में खजुरी नदी तथा तहसील सदर में एवं चुनार में गंगा नदी है। बाढ से निपटने के लिये जनपद में कुल 37 बाढ चौकयां स्थापित की जाती है जिस पर निगरानी एवं बचाव के लिये 24 घंटे कर्मचारियों की ड्यूटी लगायी जाती है। उन्होंने बताया कि बाढ नियंत्रण एवं बचाव के लिये जिला स्तर पर नियंत्रण कक्ष जिसका दूरभाश संख्या- 05442-256552 है तथा बाढ नियंत्रण कक्ष सिंचाई विभाग फतहां के नियंत्रण कक्ष का दूरभाश संख्या- 05442-252589 है। इन नियंत्रएा कक्षें में 08-08 घंटे की तीन षिफ्टा में कर्मचारियों की ड्यूटी जिनमें एक जूनियर इंजीनियर, एक तारबाबू, एक लिपिक, दो चपरासी, दा धावक कार्यरत रहेगें। इसके अलावा पुलिस विभाग द्वारा बाढ निंयंत्रएा कक्ष पर वायरलेस लगाया जाता है जिससे बाढ से सम्बन्धित सूचनाओं के आदान-प्रदान की कार्यवाही की जाती है। बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 ओ0पी0 तिवारी, अपर पुलिस अधीक्षक प्रकाष स्वरूप पाण्डेय, उपजिलाधिकारी चुनार जितेन्द्र कुमार, अधिषाशी अभियन्ता, सिंचाई, जलनिगम, विद्युत, लोक निर्माण विभाग, सभी नगर पालिकाओं के ई0ओ0 के अलावा अन्य सभी सम्बंधित अधिकारी उपस्थित रहे। श्रीनेत्र शिवलोक महाविद्यालय क्वारंटाइन सेन्टर किया गया सेनेटराइजः जिलाधिकारी सुशील कुमार पटेल के निर्देश के क्रम में पडरी के श्रीनेत्र शिवलोक महाविद्यालय में बनाये गये क्वारंटाइन सेन्टर को आज सेनेटराइज किया गया। इस अवसर पर उपस्थित चिकित्सकों व अधिकारियों के द्वारा पूरे विद्यालय परिसर, प्रत्येक कक्ष को सेनेटराइज कराया गया। इस विद्यल के क्वारंटाइन सेन्टर में अन्य प्रान्तों से आने वाले प्रवासियों/श्रमिकों को रखने की व्यवस्था की गयी है।


सरकार ने युवाओं के साथ किया खिलवाड़

राणा ओबराय


हरियाणा सरकार ने शराब के ठेके खोलकर युवाओं के स्वास्थ्य के साथ किया खिलवाड़ ;- पूर्व आईजी रणबीर शर्मा


चंडीगढ़। राष्ट्रीय लोकस्वराज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व आई.जी. रणबीर सिंह शर्मा ने कहा है कि भाजपा सरकार के राज में हर वर्ग बैकफुट पर चला गया है। आए दिन सरकार के गलत फैसले जनता के हितों के साथ खिलवाड करते नजर आते हैं। एक तरफ तो लॉकडाउन के दौरान प्रदेश के लोगों का रोजगार खत्म हो चुका है और दूसरी ओर सरकार ने गलत फैसला करते हुए शराब की दुकानों को खोलकर प्रदेश के भाईचारे को खतरे में डाल दिया है। शराब के ठेके खोलकर तो ऐसा दिखता है कि सरकार युवाओं को नशे की गर्त में धकेलना चाहती है। शराब ठेके खोलकर सरकार ने अपनी मंशा दिखा दी है। लॉकडाउन के कारण प्रदेश के लोगों का रोजगार पहले ही खत्म हो चुका हैं शराब के ठेके खोलकर लोगों के पास बचा पैसा भी हडपना चाहते हैं। सरकार को आज सिर्फ अपने खजाने भरने से मतलब रह गया है। हरियाणा के एक मंत्री ने स्वयं भी शराब का बहुत बडा घोटाला स्वीकारते हुए एक्साईज व पुलिस विभाग को दोषी करार दिया है।


सीएम खट्टर ने इस्तीफा किया नामंजूर

राणा ओबराय


सीएम खट्टर ने परिपक्व राजनेता का परिचय देते हुए आईएएस नागर का इस्तीफा किया नामंजूर!


चंडीगढ़। आईएएस रानी नागर द्वारा सुरक्षा पर खतरा बताते हुए इस्तीफा दे दिया था जिसे आज मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने ना मंजूर कर दिया है। नागर का काडर भी हरियाणा से उनके गृह राज्य करने की सिफारिश भी केंद्र से कर दी है। इसकी सूचना केंद्रीय राज्य मंत्री कंवरपाल गुर्जर ने अपने ट्विटर हैंडल पर दी है। उन्होंने इसे लेकर दो ट्वीट किए। जिन्हें मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने भी रिट्वीट किया है।


केंद्रीय मंत्री ने पहले ट्वीट में लिखा- हरियाणा काडर की आईएएस अधिकारी रानी नागर का इस्तीफा सीएम ने नामंजूर कर दिया है। इसके लिए मैं उनका आभार प्रकट करता हूं।


2500 परिवारों में वितरित किया गया 'लंगर'

अमित शर्मा


चंडीगढ़। श्री गुरु रविदास गुरुद्वारा प्रबंधक सभा सैक्टर 30 ए, चण्डीगढ़ द्वारा शुक्रवार 8 मई को मोली जागरा की भिन्न भिन्न कॉलोनियों जैसे चरण सिंह कॉलोनी, पीर कॉलोनी, सुंदर कॉलोनी और मखन माजरा में लगाया गया । श्री गुरु रविदास गुरुद्वारा प्रबंधक सभा के प्रधान ओम प्रकाश चोपड़ा ने यह कहा कि यह लंगर यहां रहने वाले 2500 परिवारों में वितरित किया गया । यह लंगर गुरु घर से जुड़े मेंबरस और पुलिस पर्सन के सहयोग से बांटा गया । उन्होंने बताया कि इस कार्य को करते लगभग 43 दिन हो गए हैं । कालोनी वासियों को इस दौरान करोना जैसे भयंकर बीमारी से कैसे बचना है। जिसमें उन्हें बताया गया कि फिजिकल डिस्टेंस बना के रखो, साफ सुथरे कपड़े पहनें, हाथों को साफ रखें आदि।


छत्तीसगढ़ः तेज हवाओं के बीच गिरा तापमान

तेज हवाओं के बीच पड़ी बौछारों से फिर गिरा तापमान


मनोज सिंह ठाकुर


रायपुर। राजधानी रायपुर में आज एक बार फिर से मौसम का मिजाज बदला और चिलचिलाती धूप के बीच दोपहर 2.30 बजे के आसपास राजधानी मेंं करीब आधे घंटे तक पड़ी हल्की बौछारों ने मौसम सुहावना कर दिया।
मौसम विभाग के नियमित रिपोर्ट की माने तो हाल-फिलहाल छत्तीसगढ़ के निकट बने चक्रीय चक्रवाती सिस्टम और द्रोणिका के असर से प्रदेश में नमीयुक्त हवा आने का क्रम जारी है। वातावरण में व्याप्त नमी और चक्रवाती सिस्टम के असर से आज दोपहर बाद अचानक मौसम का मिजाज बदला और आसमान में छाए बादल घने हो गए। दोपहर करीब 2.30 बजे अचानक ठंडी और तेज हवाएं चलने लगी। इसके बाद तेज बौछारें पडऩी शुरू हो गई जो करीब आधे घंटे तक चली।


मौसम विभाग की माने तो कल बनी द्रोणिका जो कि विदर्भ से लेकर दक्षिण तमिलनाडु तक बनी थी आज पश्चिम मध्यप्रदेश से लेकर दक्षिणी अंदरुनी कनार्टका तक बनी हुई है। यह द्रोणिका महाराष्ट्र और उत्तरी अंदरुनी कनार्टका के ऊपर 0.9 किमी की ऊंचाई पर सक्रिय है। मौसम वैज्ञानिकों की माने तो वर्तमान में बन रही चक्रीय चक्रवाती सिस्टम के असर से ही मौसम का मिजाज बिगड़ रहा है। हालांकि इससे प्रदेश के प्रमुख शहरों में अधिकतम तापमान के आंकड़ों पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा। निकट भविष्य में इन सिस्टमों का असर कम होते ही प्रदेश में एक बार फिर से अच्छी गर्मी पड़ेगी। आज राजनांदगांव में सबसे अधिक तापमान 38.4 डिग्री रिकार्ड की गई है, वहीं राजधानी रायपुर में आज 37.0 डिग्री, अंबिकापुर में 33.2 डिग्री, बिलासपुर में 36.4, पेण्ड्रारोड में 33.5 तथा जगदलपुर में 34.6 डिग्री अधिकतम तापमान रिकार्ड किया गया है।


झंझावत के साथ वज्रपात की आशंकाः मौसम विभाग ने आज त्वरित पूर्वानुमान जारी करते हुए प्रदेश के कोरिया, सरगुजा, बलरामपुर, सूरजपुर, मुंगेली, बिलासपुर, कोरबा, कबीरधाम, बेमेतरा, जांजगीर, रायगढ़, राजनांदगांव, दुर्ग, रायपुर, बलौदाबाजार, महासमुंद, गरियाबंद तथा कांकेर जिले में दोपहर बाद एक-दो स्थानों पर गरज-चमक के साथ बौछारें पडऩे, झंझावत चलने और ओलावृष्टि के साथ आकाशीय बिजली गिरने की संभावना जताई है।


जरूरतमंदों के लिए खाद्य सामग्रीः सांसद

सांसद प्रो0 रीता जोशी ने पार्षदों को गरीब जरूरतमंदों के


लिए बांटी खाद्यान्न सामग्री, किया जनता से सतर्क रहने की अपील


प्रयागराज। भाजपा नेता एवं सांसद मीडिया प्रभारी अभिषेक शुक्ला ने एक विज्ञप्ति जारी कर बताया की इलाहाबाद की सांसद प्रोफेसर रीता बहुगुणा जोशी ने शहर दक्षिणी के पार्षदों सेे भाजपा महानगर अध्यक्ष के कार्यालय कीटगंज में मुलाकात की और पार्षदों के माध्यम से गरीब जरूरतमंदों के लिए राहत सामग्री वितरण की जिसमें आटा, दाल, चावल, तेल, नमक, मसाला एवं मास्क आदि दिया, इस दौरान अधिकतर शहर दक्षिणी के पार्षद मौजूद थे। सांसद प्रो0 रीता जोशी ने बताया कि कोविड-19 महामारी में शहर दक्षिणी के पार्षदों ने बिना अपनी परवाह किए लाखों लोगों के घर-घर जाकर जरूरतमंदों को राहत सामग्री उपलब्ध करायी एवं सामुदायिक भोजनालय चलाकर फूड पैकेट वितरित किए। उन्होंने कहा कि जितनी मेहनत इन लोगों ने की शायद ही कोई करेगा। इनकी तरफ से जो कमियाँ रह जा रही है उनको दूर करने के लिए पूर्ण प्रयास करूंगी। प्रो0 जोशी ने कहा कि यह महामारी बड़ी तेजी से आई है उसके अनुसार प्रशासन की तैयारी ठीक रखी है। जिस तरह हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी व मुख्यमंत्री श्री योगी जी के नेतृत्व में भारत व उ0प्र0 में कोविड-19 के लिए कार्य कर रहे है वह सराहनीय है। गरीब कल्याण योजनान्तर्गत जो सहूलियत दी गई है व अप्रत्याशित है। भारत सरकार व उ0प्र0 सरकार द्वारा हेल्प लाइन बनाई गई जिससे अन्य प्रदेशों में फंसे श्रमिकों को उनके घर वापस लाया जा सके। सांसद प्रो0 रीता जोशी ने अपनी भी एक हेल्प लाइन बना हुई है जिसका ई-मेल तपजंइरवेीप/हउंपसण्बवउ जो श्रमिक एवं कामगर लोग अपने घर वापस आना चाहते है वो सांसद प्रो0 जोशी के हेल्पलाइन पर सम्पर्क कर सकते है। अबतक 1800 लोगांे का पंजीकरण कराया जा चुका है। सांसद प्रो0 रीता जोशी ने पार्षदों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मोदी जी व योगी जी की प्रेरणा से भाजपा का कोई ऐसा कार्यकर्ता नहीं जो जरूरतमंदों की मदद न कर रहा हो। प्रो0 जोशी ने कहा न हमें डरना है, न किसी को डराना है, यदि कोई व्यक्ति इस रोग से ग्रसित हो जाता है तो उसका बहिष्कार नहीं करना है बल्कि उसे इस प्रकार की व्यवस्था देनी है कि जिससे वह ठीक होकर लौटे।
बाहर प्रदेशों से आ रहे श्रमिकों के बारे में जानकारी रखना, उन पर निगरानी रखना व उनके लोंगों को समझाना की वे कुछ दिनों के लिए स्वयं को पृथकवास में रखे। सांसद प्रो0 रीता जोशी ने पार्षदों को व्हाट्सएप गु्रप बनाकर सूचानाओं से अवगत होने के लिए बताया और स्वयं को भी अवगत कराने के लिए कहा। लोगों की समस्यों को लेकर प्रो0 जोशी कई बार जिलाधिकारी से मुलाकात करती रहती है। प्रयागराज रेड जोन में होने के कारण सांसद प्रो0 रीता जोशी ने अपनी चिन्ता व्यक्ति की और लोगों से और अधिक सतर्क रहने के अपील की। लगभगग 70 प्रतिशत लोगांे का 1000रू0 मिल चुका है, 50 प्रतिशत लोगों का राशन कार्ड बनाया जा चुका है और सांसद जोशी ने पार्षदों को निर्देश दिया कि सभी लोगों को आरोग्य सेतु एप डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित करें। भाजपा महानगर अध्यक्ष गणेश केसरवानी ने सांसद श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी जी का एवं उपस्थित सभी पार्षदों का स्वागत करते हुए कहा कि जिस प्रकार से इस संक्रमण के दौर में आदरणीय सांसद  जी एवं  सभी भाजपा के पार्षदों  ने जरूरतमंद लोगों तक राशन सामग्री पहुंचाने का कार्य किया  और केंद्र एवं प्रदेश सरकार के द्वारा लाए गए गरीब जन कल्याण की सभी योजनाएं अपनी जान जोखिम में डालकर  जरूरतमंद लोगों तक पहुंचाने  तक जो भी कार्य  किया  है वह अत्यंत ही सराहनीय  एवं वंदनीय है भारतीय जनता पार्टी आप  सभी के प्रति हृदय से अभिनंदन करती है  पार्षदगणों में  मुख्य रूप से  सत्येंद्र चोपड़ा किरन जायसवाल सविता केसरवानी नीलम यादव पूजा कक्कड़ रुचि गुप्ताए ऋषि निषादए दीपेश यादवए साहिल अरोराए रमेश मिश्राए ओपी द्विवेदीए जगमोहन गुप्ता दिलीप जायसवाल, रोहित मालवीय एवं सांसद के जनसम्पर्क प्रभारी संतप्रसाद पाण्डेय, मीडिया प्रभारी अभिषेक शुक्ला, मनु कक्कड़, विजय पुर्सवानी, उषारानी(सदस्य महिला आयोग उ0प्र0) तथा महानगर कार्यालय से गिरि शंकर प्रभाकर बृजेश मिश्रा राजेश केसरवानी मीडिया प्रभारी प्रमोद जायसवाल गिरिजेश मिश्रा  सुभाष वैश्य राजन शुक्ला दिनेश विश्वकर्माए मनोज मिश्र अमर सिंह क्षमा दुबे विवेक मिश्रा अमित गुप्ता आदि कार्यकर्तागण उपस्थित रहें। अंत में सांसद प्रो0 रीता जोशी ने कहा कोरोना हारेगा, भारत जीतेगा।


बृजेश केसरवानी


गाजियाबाद में 12 लोगों में वायरस पुष्टि

गाजियाबाद। गाजियाबाद जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या रुकने की जगह लगातार बढ़ रही है। बुधवार को गाजियाबाद में 12 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई। इनमें से अधिकांश ऐसे हैं जो निजी अस्पतालों से अपना उपचार करवा रहे थे और एहतियातन करवाई गई जांच में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई। कोरोना के बढ़ते मामलों को लेकर स्वास्थ्य विभाग हॉट स्पॉट वाले इलाकों में कम्युनिटी टेस्टिंग बढ़ाने की तैयारी कर रहा है।


खोड़ा के 2 युवकों में मिला संक्रमणः खोड़ा में वाले दो युवकों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। दोनों पूर्व में पॉजिटिव हुए एक मरीज के संपर्क में आए थे और फिलहाल होम क्वारंटीन में थे। एहतियातन उनका टेस्ट किया गया था, जो पॉजिटिव आया। दोनों को ईएसआई राजेंद्र नगर में भर्ती किया गया है। स्वास्थ्य विभाग ने इनके परिवारवालों व दोस्तों समेत 35 लोगों को क्वारंटीन किया है।


80 साल के बुजुर्ग की रिपोर्ट पॉजिटिवः जटवाड़ा में रहने वाले 80 वर्षीय बुजुर्ग का एक निजी डॉक्टर से उपचार चल रहा था। हाल ही में उनकी सर्जरी होनी है, जिस कारण निजी लैब से उनका कोरोना टेस्ट करवाया गया था। इनकी रिपोर्ट बुधवार को पॉजिटिव आई। बुजुर्ग को सांस लेने में परेशानी होने के साथ खांसी भी थी। मामले की सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग ने उन्हें मेरठ रेफर किया है और परिवार के 5 सदस्यों को क्वारंटीन किया है। रिपोर्ट आने से पहले बुजुर्ग का एक पैथॉलजी लैब में अल्ट्रासाउंड भी करवाया गया था। रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद अब अल्ट्रासाउंड करने वाले डॉक्टर और स्टाफ को होम क्वारंटीन किया गया है और अल्ट्रासाउंड रूम को तीन दिन के लिए सील कर दिया गया है। इसके साथ ही प्रशासन ने जटवाड़ा को भी सील किया है।


लॉकडाउनः देशों में कई तरह के मतभेद

लंदन। कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन को हटाने को लेकर विभिन्न देशों में कई तरह के मतभेद उभरकर सामने आ रहे हैं। एक ओर अर्थव्यवस्था बर्बाद होने का खतरा है तो वहीं दूसरी ओर जान जाने का डर सता रहा है। फ्रांस के मेयर स्कूलों को फिर से खोलने के सरकार के फैसले का विरोध कर रहे हैं।


इटली के गवर्नर लॉकडाउन नियमों में तेजी से ढील देने की मांग कर रहे हैं। ब्रिटेन सरकार अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने को लेकर बेताब है। स्कॉटलैंड की नेता निकोला स्टर्जन ने आगाह किया है कि जल्दबाजी में कदम उठाने से वायरस दोबारा विकराल रूप धारण कर सकता है।स्टर्जन ने बृहस्पतिवार को कहा, "इस समय पाबंदियों में ढील देने में जल्दबाजी दिखाना बहुत-बहुत खतरनाक साबित हो सकता है।"


अमेरिका के बाद ब्रिटेन में कोरोना वायरस से सबसे अधिक 30 हजार मौतें हुई हैं। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन बृहस्पतिवार को लॉकडाउन की अवधि बढ़ा सकते हैं। हालांकि, साथ ही इस बात की भी संभावना है कि वह अगले सप्ताह से आर्थिक और सामाजिक गतिविधियों के लिये थोड़ी और ढील दे सकते हैं।ब्रिटेन में 23 मार्च से लॉकडाउन लागू है। ऐसे में लोगों को जरूरी सामान खरीदने के लिये ही बाहर जाने की अनुमति है। इससे पहले रविवार को जॉनसन ने अगले सप्ताह के लिये रोडमैप तैयार किया था। जॉनसन ने कहा है कि संक्रमण के दूसरे दौर से बचने के लिये सरकार अधिकतम सावधानी बरतेगी। फ्रांस में पेरिस क्षेत्र में 300 से अधिक मेयरों ने राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों से आग्रह किया है कि वह सोमवार से स्कूल दोबारा खोलने के अपने फैसले पर फिर से विचार करें। देश में कई मेयर पहले ही, स्कूल खोलने से इनकार कर चुके हैं। हालांकि, दूसरी ओर सरकार पर अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने का दबाव भी है। वहीं, इटली में सरकार ने दो महीने से जारी लॉकडाउन में ढील देनी शुरू कर दी है। इस दौरान 45 लाख कर्मचारियों को काम पर जाने की अनुमति दी गई है, हालांकि क्षेत्रीय गवर्नर सरकार पर दुकानें और रेस्त्रां खोलने का दबाव बना रहे हैं। गर्वनर अपनी खुद की योजनाओं के तहत लॉकडाउन खोलने का प्रस्ताव सरकार के सामने रखना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि संक्रमण पर काबू रखकर उनके क्षेत्रों में आर्थिक गतिविधियां फिर से शुरू की जाएं। इटली के प्रधानमंत्री जोसेफ कोंटे ने देश के रोमन कैथोलिक बिशपों के दबाव में आकर 18 मई से जनसभाएं करने की अनुमति दे दी है। स्पेन में, आठ सप्ताह के सख्त लॉकडाउन के चलते सरकार की चिंताएं बढ़ती जा रही हैं। कुछ क्षेत्रीय और विपक्षी पार्टियां 14 मार्च से लागू आपातकाल को खत्म करने की मांग कर रही हैं। हालांकि सरकार का कहना है कि अभी ऐसा किया जाना ठीक नहीं है। इस बीच जर्मनी की 16 राज्य सरकारें भी रेस्त्रां और होटल जैसे उद्योग फिर से खोलने को लेकर आतुर हैं। राज्य सरकारों ने बुधवार को चांसलर एंजेला मर्केल के साथ हुई बैठक में इस बात पर सहमति जतायी कि राज्यों के प्रमुखों को अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने का फैसला लेने के लिये ज्यादा अधिकार दिये जाएंगे। अगर संक्रमण पर काबू नहीं पाया गया तो राज्य दोबारा पाबंदियां लागू कर सकते हैं। रूस में संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। ऐसे में राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने राज्य सरकारों को लॉकडाउन समेत अन्य पाबंदियां लागू करने का निर्देश दिया है। हालांकि, सेंट पीटर्सबर्ग के पॉलिटिक्स थिंकटैंक के प्रमुख मिखाइल विनोग्रेडोव ने कहा कि देश की सरकार गवर्नरों को मिले-जुले संदेश भेज रही है, जिससे उन्हें फैसले लेने में दिक्कत हो रही है। अमेरिका में भी कोरोना वायरस पाबंदियों को लेकर मत विभाजन देखने को मिल रहा है, जहां कुल 50 में से आधे राज्य लॉकडाउन में ढील दे रहे हैं, जिससे जन स्वास्थ्य अधिकारियों की चिंताएं बढ़ गई हैं। वाशिंगटन में कैसर फैमिली फाउंडेशन की वैश्विक स्वास्थ्य नीति के एसोसिएट डायरेक्टर जोश मिचौड ने कहा, 'अगर हम उचित सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा उपायों के बिना इन पाबंदियों में ढील देंगे तो संक्रमण के और अधिक मामले सामने आ सकते हैं और मृतकों की संख्या तेजी से बढ़ सकती है।" शोधकर्ताओं ने हाल ही में अनुमान लगाया है कि अगर कोरोना वायरस को समय रहते काबू नहीं किया गया तो अमेरिका में कुल 1,34000 लोगों की जान जा सकती है। फिलहाल अमेरिका में 70 हजार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है और 12 लाख से अधिक लोग संक्रमित हैं। दुनियाभर में कोरोना वायरस से अबतक 36 लाख लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। इनमें करीब ढाई लाख लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस बीते साल चीन के वुहान शहर से फैलना शुरू हुआ था। बृहस्पतिवार को चीन में संक्रमण के केवल दो मामले सामने आए हैं।


लॉक डाउन मतलब जरूरी चीजों का पालन

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए लागू राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन कोई ऑॅन और ऑफ का स्विच नहीं है। उन्होंने कहा कि लोगों के मन में एक मनोवैज्ञानिक बदलाव लाने की जरूरत है। राहुल गांधी ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए संवाददाताओं से बातचीत में कहा, “लॉकडाउन कोई सिर्फ बटन दबाना नहीं है। लॉकडाउन में कई सारी चीजें करने की जरूरत है, मनोवैज्ञानिक बदलाव लाने की जरूरत है।”


उन्होंने आगे कहा कि मौजूदा समय में कोविड-19 बीमारी खतरनाक लग रही है और यह सच्चाई है कि यह वाकई में बुजुर्गो, मधुमेह के मरीजों और दिल व फेफड़े के मरीजों के लिए खतरनाक है। कांग्रेस नेता ने कहा, “मौजूदा समय में लोग बहुत डरे हुए हैं। सरकार यदि लॉकडाउन हटाना चाहती है तो उसे लोगों के मन में मनोवैज्ञानिक बदलाव लाने और इस भय को भरोसे में बदलने की जरूरत है। अन्यथा आप लॉकडाउन हटाएंगे तो लोग बाहर निकलेंगे।” उन्होंने कहा कि कोविड-19 बीमारी हर किसी के लिए खतरनाक नहीं है। उन्होंने कहा, “कोरोना वायरस सिर्फ एक-दो प्रतिशत लोगों के लिए खतरनाक है, जबकि 95 प्रतिशत लोगों के लिए, जो स्वस्थ हैं, यह खतरनाक नहीं है। इसलिए लोगों को इस बारे में बताना चाहिए और इस महामारी से जुड़ी उनकी चिंताओं और अंदरूनी सोच को बदलने की जरूरत है।” कांग्रेस नेता ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस लॉकडाउन के बुरे प्रभाव से देश को बचाने के लिए आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, “हमें अपनी घरेलू अर्थव्यवस्था को जल्द शुरू करने की जरूरत है। जितना समय हम गंवाएंगे, उतना ही इसका बुरा असर होगा।” गांधी ने कहा, “हमें रोजगार पैदा करने वालों को बचाने की जरूरत है, उनके लिए एक दीवार बनानी है, ताकि वे रोजगार, वेतन को बचा सकें।” उन्होंने कहा कि उन्हें वित्तीय मदद मुहैया कराना जरूरी है। कांग्रेस नेता ने कहा कि अर्थव्यवस्था के दिल की तत्काल हिफाजत की जानी चाहिए और सरकार को जल्द ही वित्तीय सहायता पैकेज की घोषणा करनी चाहिए। उन्होंने कहा, अर्थव्यवस्था पर एक भयावह प्रभाव पड़ा है और आर्थिक इंजन शुरू करने के लिए राजकोषीय सहायता पैकेज की आवश्यकता होती है। राहुल ने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था ठप है, व्यवसाय ढह रहे हैं और आपको तुरंत मांग पैदा करने की आवश्यकता है। आपको सिस्टम शुरू करने की आवश्यकता है, अन्यथा बड़ा नुकसान होगा। उन्होंने कहा कि समय की मांग है कि मांग पैदा करना, सिस्टम में पैसा लगाना, गरीब लोगों के हाथों में पैसा देना, एमएसएमई की मदद करना और सुनिश्चित करना कि आप कुछ बड़े उद्योगों की रक्षा भी कर रहे हैं, क्योंकि ये सभी आपस में जुड़े हुए हैं। कांग्रेस नेता ने कहा, आपको एक जैसे बड़े और छोटे व्यवसायों का ध्यान रखना होगा, क्योंकि ये सभी कहीं न कहीं जुड़े हुए हैं। अगर आप इंजन शुरू करना चाहते हैं, तो आप इंजन के सिर्फ एक हिस्से को शुरू करने के बारे में नहीं सोच सकते हैं। उन्होंने सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योग (एमएसएमई) को ऋण देकर उनका समर्थन करने की बात भी कही। कांग्रेस नेता ने राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच पिछले एक महीने में मीडिया के साथ दूसरी बार बात की है। वह इस महामारी और इसके प्रभाव पर बुद्धिजीवियों से भी लगातार वार्ता आयोजित कर रहे हैं। सरकार ने पिछले 45 दिनों में लॉकडाउन का दो बार विस्तार किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 23 मार्च को 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की थी। उसके बाद उन्होंने 14 अप्रैल को लॉकडाउन को 19 दिन बढ़ाकर तीन मई तक कर दिया। इसके बाद सरकार ने एक मई को लॉकडाउन दो सप्ताह बढ़ाकर 17 मई तक कर दिया।


फैक्ट्रीयों को चलाने के लिए लेबर की जरूरत

गाजियाबाद। लेबर की कमी होने से फैक्ट्रियों को परमिशन मिलने के बाद भी नहीं चलाया जा सका। उद्योगपतियों का कहना है कि फैक्ट्रियों को चलाने के लिए कम से कम एक तिहाई लेबर की जरूरत होती है, लेकिन अभी एक तिहाई लेबर फैक्ट्री में नहीं है। अब भी प्रशासन यहां मौजूद लेबरों को उनके गांव भेजने का काम कर रहा है। यदि सब चले गए तो फैक्ट्रियों को चलाना मुश्किल हो जाएगा। गाजियाबाद इंडस्ट्रीज फेडरेशन के महासचिव अनिल गुप्ता का कहना है कि लेबर की कमी से हर उद्योगपति जूझ रहा है। वह लेबर की आपूर्ति करने वाले ठेकेदार को फोन करके मांग कर रहा है, लेकिन उनकी तरफ से कोई रेस्पॉन्स नहीं दिया जा रहा है। उनका कहना है कि जो लेबर गांव जा चुकी है। यदि वह आने के लिए तैयार भी हैं तो उसे लाया जाना बहुत मुश्किल है, क्योंकि उनके पास नहीं है।


गाजियाबादः आपूर्ति चैन पूरी तरह प्रभावित

गाजियाबाद। उद्योगपतियों का कहना है कि क्षमता के अनुसार, प्रॉडक्शन नहीं शुरू हो पाने की वजह से सप्लाई चेन पूरी तरह से प्रभावित हो सकती है। वहीं, बिल्डरों का कहना है कि निर्माण कार्य पूरे स्पीड से शुरू नहीं हो पाने से फ्लैट की समय से डिलिवरी नहीं हो सकेगी। इससे बायर्स को परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।


बिल्डिंगों के निर्माण में यह दिक्कतः बिल्डर के सामने भी इस तरह की दिक्कत पैदा हो गई है। बिल्डरों का कहना है कि साइट पर केवल 10 फीसदी ही मजदूर बचे हुए हैं। इसमें भी सोशल डिस्टेंसिंग समेत अन्य नियमों का पालन करवाते हुए काम शुरू करवाना है, जो काम एक महीने में होना होगा, उसमें लंबा समय लग सकता है, इसलिए लेबर की कमी की वजह से बहुत दिक्कत आ रही है।


शासन आदेश पर निर्माण कार्य शुरू होगा

गाजियाबाद। शासन के आदेश पर शहर में एक बार फिर निर्माण कार्य शुरू होगा। निर्माण कार्य की मंजूरी के लिए जीडीए के सचिव को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। बुधवार की शाम तक 22 आवेदन प्राप्त हुए, जिनमें से 15 आवेदनों को मंजूरी दे दी गई है। सचिव ने बताया कि जो 22 आवेदन प्राप्त हुए थे, उनमें से एनएचएआई का एक, जीडीए के 10, सीपीडब्ल्यूडी के 3, आआरटीएस का एक, आवास विकास परिषद के 4, यूपीसीडा के 5 आवेदन शामिल हैं। वहीं, 5 आवेदनों की प्रक्रिया जारी है, जबकि आवास विकास परिषद के एक आवेदन को निरस्त कर दिया गया है। कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए निर्माण कार्य को फिर से शुरू कराने के लिए प्राधिकरण आवेदनों को मंजूरी देने के लिए तेजी से काम कर रहा है।


निपटारे की अवधि 31 अगस्त तक बढ़ी

नई दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले के निचली अदालत में जारी आपराधिक मुकदमे के निपटारे की अवधि इस वर्ष 31 अगस्त तक बढ़ा दी है। न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन और न्यायमूर्ति सूर्यकांत की पीठ ने शुक्रवार को जारी एक आदेश के तहत लखनऊ स्थित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत को बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में आपराधिक मुकदमे का निपटारा 31 अगस्त 2020 तक करने का निर्देश दिया।


खंडपीठ ने कहा कि निचली अदालत यह सुनिश्चित करे कि 31 अगस्त की नयी तारीख आगे न बढ़े। सीबीआई के विशेष जज एस. के. यादव ने गत छह मई को पत्र लिखकर समय सीमा बढ़ाने का अनुरोध किया था। उन्होंने कहा था कि अभी तक मामले में गवाही पूरी नहीं हुई है। एस. के. यादव गत वर्ष 30 सितम्बर को सेवानिवृत्त होने वाले थे, लेकिन शीर्ष अदालत ने अपने प्रशासकीय अधिकार का इस्तेमाल करते हुए उन्हें सेवा विस्तार दिया था तथा छह माह के भीतर गवाही पूरी करने और नौ महीने के भीतर निर्णय सुनाने का निर्देश दिया था।


2 ट्रकों की भिडंत, 1 ट्रक चालक घायल

दो ट्रकों की भिड़ंत में एक ट्रक का चालक गंभीर घायल


प्राथमिक उपचार बाद जिला अस्पताल रेफर


फतेहपुर। दो ट्रकों की भिड़ंत में एक ट्रक का चालक गंभीर घायल हो गया जिसको पुलिस ने इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया चिकित्सक ने हालत चिंताजनक देखते हुए प्राथमिक उपचार बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया।


जानकारी के अनुसार शुक्रवार की सुबह कोतवाली क्षेत्र के जोनिहा गांव के समीप कानपुर से बांदा किराना का सामान लेकर जा रहे ट्रक तथा बांदा से रीवा भूसी लेकर जा रहे ट्रक में आमने-सामने भिड़ंत हो गई जिसमें कानपुर से बांदा किराना का सामान लेकर जा रहे ट्रक के चालक जयदीप उम्र 22 वर्ष पुत्र स्वर्गीय महेश कुमार निवासी ज्योति नगर सेंट मैरी स्कूल तिंदवारी जनपद बांदा गंभीर घायल हो गया दुर्घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची गाड़ी ट्रक चालक को लाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया काफी देर चले उपचार के बाद उसे जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।


इनवर्टर के करंट की चपेट में युवक, भर्ती

इनवर्टर के करंट की चपेट में आया युवक


सीएचसी में कराया गया भर्ती


सुनील पुरी


फतेहपुर। घर के अंदर युवक इनवर्टर के करंट के चपेट में आ गया हालत गंभीर होने पर इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य में भर्ती कराया गया हालांकि काफी देर चले उपचार के बाद हालत में सुधार होने पर परिजनों से वापस घर ले गए।


जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के खजुआ कस्बे में उत्तम गली निवासी अमित कुमार उत्तम उम्र 22 वर्ष पुत्र महेंद्र कुमार उत्तम अपने घर के अंदर काम करते समय इनवर्टर के करंट की चपेट में आ गया शोर मचाने पर परिजनों ने किसी तरह करण से दूर किया हालत गंभीर होने पर निजी वाहन से लाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया काफी देर चले उपचार के बाद हालत में सुधार हुआ तो परिजन वापस घर ले गए।


बैंक कर्मचारियों का अभिनंदनः अध्यक्ष

भाजपा महानगर अध्यक्ष ने किया बैंक के कर्मचारियों का अभिनंदन


प्रयागराज। भारतीय जनता पार्टी के महानगर अध्यक्ष श्री गणेश केसरवानी जी ने कीडगंज  स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में  बैंक के कर्मचारियों को माला एवं अंगवस्त्रम पहनाकर ,सैनिटाइजर वितरण कर ,पुष्प वर्षा करते हुए हाथ जोड़कर वंदन एवं अभिनंदन किया इस अवसर पर उन्होंने कहा कि इस संक्रमण के दौर में जिस प्रकार से बैंक के कर्मचारी जनता की सेवा में अपना पूरा सहयोग कर रहे हैं वह अतुलनीय है, वंदनीय है।


भारतीय जनता पार्टी ऐसे सभी  बैंक के कर्मचारियों का हार्दिक अभिनंदन एवं वंदन करती है अभिनंदन करने वालों में मुख्य रूप से राजेश केसरवानी,   राजू पाठक, गिरिजेश मिश्रा, प्रमोद जायसवाल, श्रीमती आभा द्विवेदी श्रीमती क्षमा दुबे ,राजन शुक्ला,  ,मनोज मिश्रा ,  दिलीप केसरवानी ,  नरेंद्र जायसवाल,विवेक मिश्रा ,, मुकेश  लारा,.  आदि कार्यकर्ताओं ने ताली बजाकर अभिनंदन किया।


बृजेश केसरवानी


कनाडाः फ्रंटलाइन वर्कर्स का बढ़ेगा वेतन

कोरोना वायरस: कनाडा में फ्रंट लाइन वर्कर्स को बढ़ाकर मिलेगा वेतन


ओटावा। कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो ने तीन बिलियन डॉलर फ़ंड की घोषणा की है। इस फ़ंड का इस्तेमाल फ्रंट लाइन वर्कर्स के वेतन में बढ़ोत्तरी करने के लिए किया जाएगा। गुरुवार को अपनी दैनिक प्रेस ब्रीफ़िंग में ट्रुडो ने कहा, “यह देश चलता रहे इसके लिए अगर आप अपनी जान को जोख़िम में डाल रहे हैं को आप वेतन में बढ़ोत्तरी के हक़दार हैं। इस फंड को सभी प्रांतों के बीच बांटा जाएगा और उसके बाद वितरण को तय किया जाएगा। ट्रुडो ने कहा कि ज़रूरी स्टाफ़ अक्सर न्यूनतम वेतन की नौकरी में होते हैं, निश्चित तौर वे वेतन वृद्धि के हक़दार हैं।


सिंगापुर में कोविड-19 के 741 नए मामलेः सिंगापुर में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 741 नए मामले आने के साथ ही देश में अभी तक 20,939 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हो चुकी है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने अपडेट में बताया कि नए मामलों में ज्यादातर विदेशी कामगार हैं जिनके पास सिंगापुर में काम करने की परमिट है, इनमें भारतीय भी शामिल हैं। उन्होंने बताया कि ये लोग बेहद भीड़ भरी डोरमेट्री (शयनागार) में रहते हैं. मंत्रालय ने कहा कि नए मामलों में से सिर्फ पांच सिंगापुर के नागरिक या स्थाई निवासी (विदेशी नागरिक) हैं। विस्तृत जानकारी बाद में साझा की जाएगी. सिंगापुर में कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए करीब चार सप्ताह अधिक समय से सख्त नियम लागू हैं. ‘द स्ट्रेट्स टाइम्स’ ने विशेषज्ञों के हवाले से कहा है कि इस महीने सिंगापुर में संक्रमित लोगों की संख्या 30 से 40 हजार के बीच पहुंच सकती है, लेकिन प्रसार को रोकने के लिए उठाए गए कदम हालात को काबू से बाहर होने से रोकेंगे।


यूपीः 67 की मौत, 3159 संक्रमित

लखनऊ। कोरोना वायरस महामारी अब उत्तर प्रदेश में कहर बरपा रही है। पिछले चौबीस घंटे में यहां 155 से अधिक नए केस सामने आए हैं। इसके साथ ही प्रदेश में अब संक्रमितों की कुल संख्या 3159 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक राज्य में 1824 एक्टिव केस हैं। इसके अलावा 67 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है। इसी बीच कोविड-19 से संक्रमित और एसएन मेडिकल कॉलेज में आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराए गए एक पत्रकार की मौत हो गई है। वह बुधवार से वेंटिलेटर पर थे। आगरा जिला मजिस्ट्रेट प्रभु ए सिंह ने यह जानकारी दी है। नोएडा में पहली बार करोना से मौत का मामला सामने आया है।


बता दें कि उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में दो और लोगों के संक्रमित पाए जाने के बाद जिले में संक्रमित लोगों की कुल संख्या बढ़कर 39 हो गई है। मेडिकल स्टोर में दवाइयों की आपूर्ति करने वाले युवक और उसकी मां के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि कुछ दिन पूर्व चौक बाजार कच्ची सड़क पर एक परिवार के कुछ लोग संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद उनके संपर्क में आने वाले करीब 12 लोगों के नमूने जांच के लिए भेजे गए थे।


सांसद ने मनाया डिप्टी सीएम का जन्मदिन

सांसद ने हवन कर मनाया डिप्टी सी एम का जन्म दिन


प्रयागराज। फूलपुर सांसद केसरी देवी पटेल  के नेतृत्व में शहर उत्तरी विधान सभा के आर डी पैलेस में हवन कर उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या का 51वां जन्म दिन मनाया उन्होने कहा कि लॉक डाउन की वजह से शान्ति पूर्वक तरीके से जन्म मनाया जा रहा है। उन्होने कहा कि केशव प्रसाद मौर्या जी प्रयागराज की शान हैं।


 उन्होने प्रयागराज के लिये ऐतिहासिक विकास कार्य किया है,उन्होने  डिप्टी सी एम की दीर्घायु के लिये हवन किया,तथा  कोरोना मुक्त प्रयागराज के लिये भी प्रार्थना की,उन्होंने महात्मा बुद्ध पूर्णिमा पर भी सबको  बधाई तथा शुभकामनाएं दी,इस अवसर पर डिप्टी सी एम के पी एस दिलीप श्रीवास्तव  महानगर अध्यक्ष गणेश केसरवानी,अवधेश गुप्ता,विधायक हर्ष वर्धन वाजपेयी,विधायक विक्रमादित्य मौर्या,पूर्व विधायक दीपक पटेल,अरुण अग्रवाल,वरुण केसरवनी,आशीष केसरवानी,कुंज बिहारी मिश्रा,राजन,विजय पटेल,पूर्व जिला मिडिया प्रभारी भा ज पा गंगापार उमेश तिवारी आदि मौजूद रहे।
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


हर श्रमिक-कामगार को सुरक्षित लाएंगे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि सरकार अपने प्रदेश के हर श्रमिक एवं कामगार को सुरक्षित उनके घर तक लाएगी और यह प्रक्रिया मार्च के अंतिम हफ्ते से ही जारी है। उन्होंने कहा है कि जरूरत के अनुसार इसके लिए ट्रेन और बसों की मदद ली जा रही है और अगले 24 घंटों में दूसरे राज्यों से उत्तर प्रदेश के श्रमिकों को लेकर 79 ट्रेनें आएंगीं।


मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को जारी एक बयान में कहा कि महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, कनार्टक, केरल और तेलंगाना आदि से प्रदेश के श्रमिकों को लेकर चलीं 79 ट्रेनें रास्ते में हैं। शनिवार तक ये अपने-अपने गंतव्य तक पहुंच जाएंगी। 56 ट्रेनों से अब तक गुजरात, महाराष्ट्र, कनार्टक, पंजाब, आंध्र प्रदेश और केरल आदि राज्यों से करीब 70 हजार श्रमिकों की वापसी हो चुकी है। सीएम योगी ने बताया कि ट्रेनों के अलावा उप्र परिवहन निगम की करीब 10 हजार बसें भी आने वालों को सुरक्षित उनके घरों तक पहुंचा रही हैं। शुक्रवार को हरियाणा से 30 हजार श्रमिक अपने प्रदेश में पहुंचेंगे। सीएम ने अपील की है कि खुद के स्वास्थ्य और सुरक्षा के नाते कोई भी श्रमिक पैदल, साइकिल या दो पहिया से अपने घर के लिए न निकले। ये सारी व्यवस्था उसके लिए ही की गई है। धैर्य रखें सरकार उन तक जल्दी ही पहुंचेगी। उन्होंने कहा कि आने वाले हर प्रवासी के स्वास्थ्य की जांच उस जिले के क्वारंटाइन सेंटर पर अनिवार्य रूप से हो रही है। स्वस्थ लोगों को उनके घर इस हिदायत के साथ भेजा जा रहा है कि वे घर पर होम क्वारंटाइन के मानकों का अनुपालन करेंगे। संदिग्ध को पूरी जांच के लिए सेंटर में ही आइसोलेट कर दिया जा रहा है। घर जाने वाले हर श्रमिक को अनिवार्य रूप से भरण-पोषण के लिए एक हजार रुपए और तय मात्रा में खाद्यान्न भी दिया जा रहा है। अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे लॉकडाउन के दौरान भी औद्योगिक इकाई के मालिकों से कह कर श्रमिकों को वेतन या मानदेय दिलाना सुनिश्चित कराएं। अब करीब 55 हजार इकाइयां श्रमिकों को वेतन एवं मानदेय के रूप में 633.44 करोड़ रुपये का भुगतान कर चुकी हैं।


गौतम बुधनगर में 214 संक्रमित संख्या

अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद/ गौतम बुधनगर। गौतमबुद्धनगर जिले में शुक्रवार को 12 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं। अब जिले में कुल मरीजों की संख्या 214 हो गई है। 118 लोग ठीक होकर अपने अपने घर जा चुके हैं। वहीं एक की मौत हो चुकी है। 


कानपुर में कोरोना मरीजों की संख्या 300 पार
शुक्रवार को कोरोना के नौ नए मामले सामने आए हैं। सीएमओ डॉ. अशोक शुक्ला ने बताया कि हॉटस्पॉट इलाके के नौ और लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है। ये सभी हॉटस्पॉट इलाके के हैं। दो मरीज बाबूपुरवा, पांच कर्नलगंज और दो चमनगंज क्षेत्र के हैं। कानपुर में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 301 हो गई है।


गाजियाबाद में चार नए संक्रमितः गाजियाबाद में कोरोना के चार नए मामले सामने आए हैं। इनमें से तीन मरीज खोड़ा में कोरोना से मृत व्यक्ति के संपर्क में आए थे, जबकि चौथी मरीज एक महिला है जो जिला अस्पताल में ऑपरेशन कराने आई थी। जिले में अब तक कुल 124 मामले हो गए हैं।


ब्रिटेन में रोजाना 20,000 लोग संक्रमित

ब्रिटेन में हर दिन 20 हजार लोगों को संक्रमित कर रहा कोरोना, जारी की गई चेतावनी


लंदन। ब्रिटेन में हर दिन 20 हजार नए लोगों को कोरोना अपना शिकार बना रहा है। वैज्ञानिकों ने बताया है कि हर दिन करीब 20 हजार लोग संक्रमित हो रहे हैं। ऐसा केयर होम्स में संक्रमण के मामलों के बढ़ने की वजह से हुआ है।वैज्ञानिकों ने इस बारे में चेतावनी जारी की है। एक्सपर्ट ने बताया है कि कोरोना का वायरस पंद्रह दिनों पहले जितना संक्रमण फैला रहा था, उससे अब कहीं ज्यादा तेजी से संक्रमण फैल रहा है।


ब्रिटेन में वायरस रिप्रोडक्शन रेट बढ़ा है. वायरस रिप्रोडक्शन रेट के जरिए ये पता लगता है कि एक संक्रमित मरीज कितनी संख्या में दूसरों को संक्रमित कर सकता है. ब्रिटेन की सरकार को इमरजेंसी के हालात में सलाह देने वाले प्रोफेसर जॉन एडमंड्स ने कहा है कि संक्रमण के मामले इतना बढ़ गए हैं कि उनकी कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग करना मुश्किल हो रहा है।


अफ्रीकाः 1.9 लाख तक हो सकती है मौतें

अफ़्रीका में 83 हज़ार से एक लाख 90 हज़ार तक हो सकती हैं मौतें: WHO


विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि अगर कोरोना वायरस के संक्रमण को सख़्ती से नहीं रोका गया तो अफ़्रीका में 83 हज़ार से एक लाख 90 हज़ार तक लोगों की जान ले सकता हैं। WHO ने ये भी कहा है कि पहले साल में यहां कोरोना वायरस से 2.9 करोड़ से 4.4 करोड़ लोग संक्रमित हो सकते हैं। WHO की यह नई स्टडी है और इसे कई आधार पर तैयार किया गया है। अफ़्रीका में कोरोना वायरस को लेकर बहुत गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है।


पुतिन ने स्वीकार की ट्रंप की मददः राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने गुरुवार को कहा कि रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने मेडिकल हेल्प के लिए अमरीकी मदद की पेशकश स्वीकार कर ली है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़ ट्रंप ने कहा कि कोविड-19 की महामारी के ख़िलाफ़ जारी लड़ाई में रूस मुश्किल दौर से गुजर रहा है. गुरुवार को कोरोना संक्रमण के मामलों में रूस ने जर्मनी और फ्रांस को पीछे छोड़ दिया है. अमरीकी सीनेटरों ने चीनी दूतावास की सड़क का नाम बदलने का प्रस्ताव रखा।


चीनः सबसे निचले स्तर पर पहुंचा

जिनपिंग ने कहा- संभल कर रहें


बिजिंग। चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने सभी क्षेत्रों में कोविड-19 महामारी के खतरे कम होने के बाद लोगों को आगाह किया है कि वह जरूरी एहतियात बरतना कम न करें। चीन के एक सरकारी समाचार पत्र के अनुसार चीन के सभी क्षेत्रों में खतरा बृहस्पतिवार से अब तक के सबसे निचले स्तर पर जाना शुरू हुआ है।


चीन ने हुबेई प्रांत और उसकी राजधानी तथा वायरस का केंद्र रहे वुहान में पहले ही खतरा चेतावनी को कम कर लिया है और देश में कारोबार और फैक्ट्रियों ने काम करना शुरू कर दिया है. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (एनएचसी) ने बृहस्पतिवार को कहा कि बुधवार को घरेलू स्तर पर संक्रमण के प्रसार का कोई नया मामले सामने नहीं आया जबकि विदेश के दो नए मामले सामने आए हैं. देश में संक्रमण के लक्षण नहीं दिखने वाले मरीजों की संख्या 880 है. चीन में बुधवार को किसी भी व्यक्ति की इस वायरस की वजह से मौत नहीं हुई. देश में अब तक 4, 633 लोगों की मौत संक्रमण की वजह से हो चुकी है और कुल संक्रमित लोगों की संख्या 82,885 है।


पीपीई की कमी, 'केयर वर्कर' को हटाया

पीपीई की कमी का मुद्दा उठाने पर 'केयर वर्कर' को हटाया


लंदन। ब्रिटेन में विपक्षी लेबर पार्टी की भारतीय मूल की सांसद नादिया व्हिटोम ने दावा किया है कि कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में उन्हें 'केयर वर्कर' (लोगों की देखभाल) के काम से हटा दिया गया क्योंकि उन्होंने निजी सुरक्षा उपकरण (पीपीई) की कमी का मुद्दा उठाया था।


नादिया ने इस महामारी के खिलाफ जंग में अंशकालिक रूप से 'केयर वर्कर' का काम शुरू किया था. नॉटिघम से सांसद नादिया अब एक अभियान चला रही हैं ताकि ऐसे लोगों को अपनी बात कहने के लिए प्रोत्साहित किया जाए जो सुरक्षा उपकरणों की कमी का सामना कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि पीपीई की कमी का मुद्दा उठाने पर उन्हें काम से हटा दिया गया। उन्होंने कहा कि यह सिर्फ उनकी बात नहीं है, न ही किसी एक व्यक्ति की बात है और न ही किसी नियोक्ता की बात है।


दुबईः उड़ानों में कुल 354 स्वदेश लौटेगें

UAE से भारतीयों की वापसी शुरू


कोविड-19ः 177 भारतीयों को लेकर एअर इंडिया का विमान यूएई से रवाना


अबू धाबी। दुबई संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से भारतीयों को ला रहीं दो में से एक उड़ान 177 भारतीयों को लेकर केरल के लिये रवाना हो गई है। इन दो उड़ानों में कुल 354 भारतीय स्वदेश लौटेंगे। इनमें दो जुड़वां बच्चे और 11 गर्भवती महिलाएं शामिल हैं। दरअसल, भारत ने कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू अंतरराष्ट्रीय यात्रा लॉकडाउन के बीच विदेशों से अपने फंसे हुए नागरिकों को वापस लाने के लिये अब तक का सबसे बड़ा अभियान शुरू किया है।


इसे ‘वंदे भारत अभियान’ नाम दिया गया है. एअर इंडिया की उड़ान संख्या IX452 अबूधाबी से कोच्चि के लिये उड़ान भर चुकी है. इसके बाद एअर इंडिया का ही एक और विमान दुबई से कोच्चि के लिये रवाना हुआ.
स्पेन में रोजाना होने वाली मौतों की संख्या में कमी आयी
स्पेन में जारी कोविड-19 लॉकडाउन को दो सप्ताह आगे बढ़ाने की संसद से मंजूरी मिलने के बीच अच्छी खबर यह है कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण से रोज हो रही मौतों की संख्या में कमी आयी है. स्पेन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बतासया कि गुरूवार को कोविड-19 से 200 लोगों की मौत हुई है. देश में अभी तक कोरोना वायरस संक्रमण से 26,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. स्पेन में पहले जहां एक दिन में 900 से ज्यादा लोगों की मौत कोविड-19 से हो रही थी, वह अब कम होकर 200 पर आ गयी है।


बांग्लादेश में नमाज करने की अनुमति

बांग्लादेश में मस्जिद में नमाज अदा करने की अनुमति दी गई


ढाका। लॉकडाउन के प्रतिबंधों में ढील देने की कड़ी में बृहस्पतिवार को बांग्लादेश सरकार ने मस्जिदों में जमात के साथ नमाज अदा करने की अनुमति दे दी। हालांकि, इसके साथ ही नए दिशा-निर्देशों का सख्ती के साथ पालन करने का आदेश भी दिया गया है। देश में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के 12,425 मामले है। 


स्थानीय मीडिया के मुताबिक, हालांकि, सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करने के तहत मस्जिद प्रशासन को अपने परिसर में इफ्तार के लिए लोगों को एकत्र करने की अनुमति नहीं है. धार्मिक मामलों के मंत्रालय ने कहा कि मस्जिदों और नमाजियों को नमाज पढ़ने के दौरान सुरक्षा नियमों का पालन करने को कहा गया है. बांग्लादेश ने कोरोना वायरस के प्रसार की रोकथाम के मद्देनजर 26 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी. ऐसे में सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करवाने के तहत इमाम समेत केवल पांच लोगों को मस्जिद में नमाज अदा करने की छूट दी गई थी. इसी तरह, जुमे की नमाज में अधिकतम दस लोग जबकि तरावीह (रमजान में रात की विशेष नमाज) में अधिकतम 12 लोग ही शामिल हो सकते थे।


6 दिन में 10,000 से अधिक नए केस

रूस में लगातार छठे दिन भी 10,000 से ज़्यादा नए मामले


मास्को। रूस में लगातार छठे दिन भी 10,000 प्रति दिन के औसत से मामले सामने आये हैं। सरकारी डेटा के अनुसार रूस में बीते 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 10,699 नए मामलों की पुष्टि हुई है। इसके साथ ही रूस में संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,87,859 हो गए हैं। बीते 24 घंटे में 98 लोगों की मौत भी हुई है जिसके बाद कोविड-19 से मरने वालों की संख्या 1,723 हो गई है।


चीन में कोरोना वायरस संक्रमण के 17 नए मामलेः चीन में कोरोना वायरस संक्रमण के 17 नए मामले सामने आए हैं जिसमें से वायरस का केंद्र रहे हुबेई प्रांत के 16 मामले ऐसे हैं जिनमें संक्रमण के लक्षण नहीं हैं. चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन (एनएचसी) ने कहा कि स्थानीय संक्रमण के प्रसार का एक मामला जिलिन प्रांत में बृहस्पतिवार को सामने आया है. हुबेई प्रांत में लक्षण नहीं दिखने के 16 नए मामले सामने आए हैं जिसके बाद देश में इस तरह के संक्रमण के मामले 845 तक पहुंच गए हैं, इन सभी लोगों को चिकित्सीय निगरानी में रखा गया है. सिर्फ हुबेई प्रांत में ही लक्षण नहीं दिखने वाले 629 मामले हैं. संक्रमण के लक्षण नहीं दिखने वाले मामले ऐसे होते हैं जिसमें बुखार, खांसी, गले में खरास जैसी कोई समस्या सामने नहीं आती है लेकिन व्यक्ति संक्रमण का वाहक होता है।


प्रवासीयों के लिए सीएम ने दिए निर्देश

सीएम योगी ने अधिकारियों को दिए निर्देश- कोई भी मजदूर पैदल यूपी नहीं आना चाहिए
देश 


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि वह सुनिश्चित करें कि प्रवासी मजदूर पैदल यात्रा कर प्रदेश वापस न लौटें।


पैदल यात्रा कर रहे प्रवासी मजदूरों के लिए सीएम योगी ने दिए सख्त निर्देश


लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि वह सुनिश्चित करें कि प्रवासी मजदूर पैदल यात्रा कर प्रदेश वापस न लौटें। सीएम के निर्देशों के बीच कुछ मजदूर इस तपती धूप में परिवार के साथ पैदल यात्रा करते हुए नजर आए। ऐसी ही यात्रा करते 172 मजदूरों को बुलंदशहर में रोका गया। दिल्ली और नोएडा से जा रहे मजदूरों को यूपी पुलिस ने रोककर एक स्थानीय कॉलेज में ठहराया है।पुलिस के अनुसार इन मजदूरों के लिए बस का इंतजाम किया जा रहा है। बसों के जरिए इन्हें इनके गृह जनपदों तक पहुंचाया जाएगा।


अधिकारियों ने साफ किया उत्तर प्रदेश सरकार कई राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित वापस लाने के काम में जुटी हुई है. सीएम योगी ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वापस आये सभी श्रमिकों का अनिवार्य रूप से स्वास्थ्य परीक्षण किया जाए. और जो टीम इन मजदूरों की जांच कर रही है उन्हें भी 14 दिनों के लिए क्वारेंनटाइन किया जाए और 14 दिनों बाद जब सभी स्वस्थ हो जाएं तो ही उन्हें घर भेजा जाए.  सीएम योगी के अनुसार सभी जनपदों में इन्फ्रा-रेड थर्मामीटर उपलब्ध कराए जाएं, ताकि प्रवासी श्रमिकों की आसानी से जांच की जा सके. प्रवासी श्रमिकों और कामगारों की जांच करते हुए स्वस्थ लोगों को घर पर ही 14 दिन के लिए पृथकवास में रखने के लिए भेजा जाए और जो स्वस्थ न हों उनकी उपचार की व्यवस्था की जाए. 


बता दें कि कोरोना के चलते हुए देश भर में जारी लॉकडाउन के कारण बड़ी संख्या में मजदूरों पर रोजी रोटी का संकट टूट पड़ा है. राज्य सरकारों के तमाम दावों के बीच भारी संख्या में मजदूर पैदल मीलों का सफर तय कर रहे हैं, हालांकि श्रामिकों के लिए ट्रेन चलाई गई है लेकिन फिर भी कई मजदूर इस योजना का फायदा नहीं ले पा रहे हैं. ऐसे में अब मजदूरों को रास्तों पर रोककर उनके घरों तक पहुंचाने की कोशिश की जा रही है।


अप्रैल में 80, 000 मामलेः डब्ल्यूएचओ

अप्रैल में कोविड-19 संक्रमण के रोजाना 80,000 मामले सामने आए: WHO


नई दिल्ली/ ढाका। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा है कि अप्रैल महीने में कोविड-19 संक्रमण के रोजाना औसतन 80,000 मामले सामने आए। उसने कहा कि भारत और बांग्लादेश जैसे दक्षिण एशियाई देशों में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं जबकि पश्चिमी यूरोप जैसे क्षेत्रों में इनकी संख्या कम हो रही है।


डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ट्रेडोस अधनोम घेब्रेयेसस ने बुधवार को कहा कि देशों को उनके क्षेत्रों में बाहर से आने वाली बीमारी के हर प्रकार के खतरे से निपटने में सक्षम होना चाहिए और समुदायों को इस बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए कि उन्हें हालात में आए इन बदलाव के अनुकूल कैसे ढलना है. उन्होंने जिनेवा में बुधवार को बताया कि डब्ल्यूएचओ के अनुसार कोविड-19 से 35 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और दो लाख 50 हजार से अधिक लोगों की मौत हुई है. अप्रैल की शुरुआत से रोजाना करीब 80,000 नए मामले सामने आ रहे थे।


यूपीः रोडवेज बसों का संचालन शुरू

लखनऊ। यूपी के 11 ग्रीन जोन जनपदों में रोडवेज बसों का संचालन शुरू हो गया है। पहले दिन 76 साधारण बसों का संचालन किया गया। ये बसें ग्रीन जोन से जुड़े जनपदों अथवा शहर से जुड़ी तहसीलों तक चलीं। पहले दिन 41 मार्गों पर बसों का संचालन किया गया। 1176 यात्रियों ने सफर किया। 


परिवहन निगम के जनसंपर्क अधिकारी अनवर अंजार ने बताया कि भारत सरकार की गाइड लाइन के अंतर्गत सुरक्षा के सभी उपाय किए जाने के निर्देश क्षेत्रीय अफसरों को दिए गए हैं। जिसमें बसों का सैनिटाइजेशन, चालकों की थर्मल स्कैनिंग आदि शामिल है। बसों में सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर यात्रियों को बैठाने की जिम्मेदारी बस कंडक्टरों को दी गई है। 


इन शहरों में शुरू हुई बसों की सेवाः लॉकडाउन के दौरान घोषित ग्रीन जोन में बसों की सेवा शुरू की गई है। जिन शहरों में बस संचालन शुरू हुआ है, उनमें चित्रकूट, हमीरपुर, अकबरपुर, लखीमपुर गोला, शाहजहांपुर, चंदौली, सोनभद्र, फरुखाबाद, फतेहपुर, ललितपुर व बलिया शामिल है।


गोरखपुर सड़कों पर लगने लगी 'भीड़'

गोरखपुर में सड़कों पर रौनक


गोरखपुर में स्टेशनरी, मोबाइल की दुकानें, मोटर वर्कशॉप समेत आठ तरह की नई सेवाओं को छूट मिलने के बाद अब सड़कों पर धीरे-धीरे भीड़ बढ़ने लगी है। शुक्रवार को शुरूआती दो दिनों की तुलना में पैदल, मोटरसाइकिल और कार वालों की संख्या ज्यादा दिखी।


वहीं जिन्हें छूट दी गई है उनमें से आधे से भी कम प्रतिष्ठानों पर भीड़ है, जबकि बाकी पर अभी भी सन्नाटा पसरा हुआ है। वहीं घोषकंपनी, गोलघर, काली मंदिर, असुरन, मोहद्दीपुर आदि इलाकों में पुलिस ने ऐसे प्रतिष्ठानों पर सख्ती कर उन्हें बंद करा दिया है।


मेरठ में कोरोना से 11वीं मौत
मेरठ में शुक्रवार को भाजपा नेता के बाद एक और मरीज की कोरोना से मौत हो गई। मेरठ में अब तक कोरोना से 11 लोगों की मौत हो गई है।


गुजरात से कासगंज पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन
गुजरात के अहमदाबाद से श्रमिक स्पेशल ट्रेन 1209 श्रमिकों को लेकर शुक्रवार सुबह कासगंज रेलवे जंक्शन पहुंची। इन श्रमिकों में बदायूं, बरेली, शाहजहांपुर, जौनपुर, गाजियाबाद, नोएडा, आगरा, मथुरा, इटावा, मैनपुरी, औरैया आदि जिलों के लोग शामिल हैं।


मायावती ने प्रदेश सरकार पर बोला हमला

मायावती का सरकार पर हमला


नई दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने शुक्रवार को प्रवासी मजदूरों का मुद्दा उठाकर एक बार फिर प्रदेश सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि प्रवासी श्रमिक व्यथित हैं। केंद्र और राज्य सरकार उनके साथ जिस तरह का व्यवहार कर रही है, वह बहुत गलत है। उनके लिए ढंग से भोजन और आवास की भी व्यवस्था नहीं की जा रही है।


बिजनौर में मिले सात नए मरीजः बिजनौर जिले में शुक्रवार को सात और कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. विजय कुमार यादव ने इसकी पुष्टि की है। अब जनपद में कोरोना के मरीजों की संख्या 39 हो गई है। इनमें से 20 मरीज ठीक हो चुके हैं और वर्तमान में 19 एक्टिव केस हैं।


फतेहपुर में मिला पहला कोरोना पॉजिटिवः फतेहपुर जिले में पहला कोरोना पॉजिटिव केस सामने आया है। बताया जा रहा है कि फतेहपुर का पहला कोरोना मरीज नया पुरवा, थाना जाफरगंज, ब्लॉक खजुहा का निवासी है। इससे पहले तक जिले में कोरोना संक्रमण का कोई मामला नहीं था। 


बुलंदशहर का एक युवक निकला संक्रमितः बुलंदशहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती मरीज में कोरोना की पुष्टि हुई है। जिले में कुल मरीजों की संख्या 61 हो गई है। युवक ने खुर्जा क्षेत्र के एक निजी अस्पताल में जांच करवाई थी। गुरुवार रात लैब द्वारा जारी रिपोर्ट में मरीज पॉजिटिव पाया गया। मरीज को निजी अस्पताल से कोविड एल-1 अस्पताल में शिफ्ट किया गया है।


झांसी में कोरोना से दूसरी मौत, रोडवेज बस का चालक संक्रमितः झांसी में कोरोना वायरस से संक्रमण के कारण दूसरी मौत का मामला सामने आया है। गुरुवार देर रात महारानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज में कोरोना पॉजिटिव 37 वर्षीय युवक की मौत हो गई। वहीं श्रमिकों को छोड़ने गई रोडवेज बस का चालक भी कोरोना पॉजिटिव निकला है।


नोएडा में कोरोना से पहली मौतः नोएडा में कोरोना संक्रमण से पहली मौत की खबर है। नोएडा सेक्टर 22 के रहने वाले 61 वर्षीय बुजुर्ग की ग्रेटर नोएडा के जिम्स अस्पताल में शुक्रवार सुबह तीन बजे मौत हो गई। 


नोएडा सैमसंग मोबाइल फैक्टरी में काम शुरूः नोएडा स्थित सैमसंग मोबाइल फैक्टरी में शुक्रवार सुबह एक बार फिर काम शुरू किया गया। करीब 3000 कामगारों को बसों से फैक्टरी लाया गया। मालूम हो कि सरकार ने कम श्रमिकों के साथ फैक्टरियों को फिर से काम शुरू करने की अनुमति दे दी है।


ट्रक-कार की भिड़ंत 3 लोगों की मौत

अतुल त्यागी


ट्रक और कार की भिड़ंत कार में सवार तीन लोगों की मौत


हापुड़। हापुड़ के थाना बाबूगढ़ क्षेत्र में दिन निकलते ही दिल को दहला देने वाला हादसा घटित हुआ जब एक कैंटर और स्विफ्ट कार के बीच जबरदस्त भिड़ंत हुई भीडंत इतनी जबरदस्त थी कि  स्विफ्ट कार के परखच्चे उड़ गए स्विफ्ट कार में सवार तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। हापुड़ के बाबूगढ़ थाना क्षेत्र में दिन निकलते ही हुआ सड़क हादसा। NH- 9 पर इआइसर केंटर और स्विफ्ट कार में हुई जबरदस्त भिड़त स्विफ्ट कार दिल्ली की तरफ से आ रही थी
आज सुबह 4 बजे स्विफ्ट कार नंबर HR 12 U 4040 से सुंदर अपने पिता का फूल लेकर जातुलबारी थाना भुवाली खेड़ा जिला भिवानी से गढ़मुक्तेश्वर जा रहे थे रास्ते मे कुचेसर चौपला से आगे शिवा ढाबा के सामने (शिम्भावली बार्डर) कैंटर संख्या UP15DT5848 में टक्कर  हो गयी जिसमे स्विफ्ट कार बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो जाने के कारण कार में सवार तीन व्यक्तियो 1 सुंदर पुत्र रामविलास 2 संजय पुत्र बिसम्बर 3 ड्राइवर सुरेश उर्फ पप्पू पुत्र प्रभु निवासीगण जातुलबागी भिवानीकी मौके पर ही मृत्यु हो गयी जिन्हें कार से काटकर निकाला गया  और रोहित पुत्र विनोद कुमार निवासी भूड़ विराल थाना परतापुर मेरठ व कैंटर में दूसरा व्यक्ति हरीश पुत्र मही लाल निवासी रानियां वाली खुर्जा बुलंदशहर कैंटर के चालक की हालत नाजुक होने के कारण जिला अस्पताल भेजा गया।हैं।


कैंटर गढ़ की तरफ से आ रहा था प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि घटना इतनी जबरदस्त थी की पलक झपकते ही स्विफ्ट गाड़ी के परखच्चे उड़ गए। स्विफ्ट कार में 3 लोग सवार की मौके पर मौत हो गयी। मृतको के शवो को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा दिया गया है। केंटर पर सवार दो लोगों गंभीर रूप से घायल है। उनको नजदीक के अस्पताल में  भर्ती कराया गया है।


मृतक संख्या-1, 888 संक्रमित-56,345

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस से 56,345 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इसमें से 1,888 लोगों की मौत हुई है। पिछले तीन दिनों में दस हजार से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। इससे पहले छह मई को 2680, पांच मई को 3875 मामले मिल थे। चार राज्यों महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल और मध्य प्रदेश में कोरोना से सर्वाधिक मौतें हुई हैं। चार राज्यों में ही अकेले 1300 से अधिक मौतें हो चुकी हैं जो कुल मौतों का 78 फीसदी के करीब है। सरकार ने बताया कि झारखंड समेत 13 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना का कोई नया मामला नहीं आया है। देश में अभी 130 रेडजोन जिले, 284 ऑरेंज जोन तथा 219 ग्रीन जोन वाले जिले हैं। अगले सप्ताह इन जिलों की समीक्षा के बाद नए सिरे से तीन श्रेणियों की सूची बनेगी।


रेलवे ने 5231 कोचों को बनाया कोरोना केंद्र

नई दिल्ली। रेल मंत्रालय ने अपने 5231 कोचों को कोविड देखभाल केंद्रों के रूप में रूपांतरित कर दिया है। इन कोचों को बेहद हल्के मामलों के लिए उपयोग में लाया जा सकता है जिन्हें नैदानिक रूप से स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुरूप कोविड देखभाल केंद्रों को सौंपा जा सकता है। इन कोचों का उपयोग वैसे क्षेत्रों में किया जा सकता है जहां राज्य की सुविधाएं कमजोर हैं और कोविड के संदिग्ध तथा पुष्ट मामलों के आइसोलेशन के लिए क्षमताओं को बढ़ाने की आवश्यकता है।


स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देश संलग्न (नीचे दिए गए लिंक में) हैं।
कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई जारी रखते हुए भारतीय रेल भारत सरकार के स्वास्थ्य देखभाल प्रयासों में सहायता देने के लिए सभी संभव प्रयास कर रही है। भारतीय रेल ने अपने 5231 कोविड देखभाल केंद्र राज्यों को प्रदान कराने की तैयारी की है। जोनल रेलवे ने इन कोचों को क्वारांटाइन सुविधा के लिए रूपांतरित कर दिया है।


215 स्टेशनों में से रेलवे 85 स्टेशनों में स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं उपलब्ध कराएगा, 130 स्टेशनों में राज्य तभी कोविड देक्षभाल कोचों का आग्रह करेंगे जब वे कर्मचारियों एवं अनिवार्य दवाएं उपलब्ध कराने के लिए सहमत होंगे। भारतीय रेल ने इन कोविड देखभाल केंद्रों के लिए 158 स्टेशनों को वाटरिंग और चार्जिंग सुविधा के साथ और 58 स्टेशनों को वाटरिंग सुविधा के साथ तैयार रखा (सूची अनुलग्नक क के रूप में नीचे संलग्न है) है।


इन कोविड देखभाल केंद्रों के अतिरिक्त, भारतीय रेल ने कोविड-19 चुनौती का सामना करने के लिए 2500 से अधिक चिकित्सक और 35000 से अधिक अर्ध चिकित्सक कर्मचारियों की नियुक्ति करेगी। चिकित्सकों और अर्ध चिकित्सक कर्मचारियों की नियुक्ति विभिन्न जोनों द्वारा अस्थायी आधार पर की जा रही है। 17 समर्पित अस्पतालों में लगभग 5,000 बेड एवं रेलवे अस्पतालों में 33 अस्पताल ब्लॉक की कोविड-19 रोगियों के उपचार के लिए पहचान की गई है जो किसी भी आकस्मिक स्थिति के लिए तैयार रहेंगे।


स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुरूप, राज्य सरकारें रेलवे को मांग पत्र भेजेंगी। रेलवे राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को इन कोचों का आवंटन करेगा। रेलवे द्वारा आवंटन किए जाने के बाद, रेलगाड़ी आवश्यक अवसंरचना के साथ अपेक्षित स्टेशन पर खड़ी कर दी जाएगी और जिला कलेक्टर/मजिस्ट्रेट या उनके किसी प्राधिकृत व्यक्ति को सुपुर्द कर दिया जाएगी। रेलगाड़ी जहां कहीं भी खड़ी होगी, जल, बिजली, अपेक्षित मरम्मत, कैटरिंग प्रबंधों एवं सुरक्षा का ध्यान भारतीय रेल द्वारा रखा जाएगा।


श्रमिक कानूनों को किया गया शिथिल

स्वामी प्रसाद मौर्य को उम्मीद- निवेश को मिलेगा बढ़ावा
सीताराम येचुरी ने लगाया श्रम को नष्ट करने का आरोप


लखनऊ । कोरोना वायरस की महामारी के कारण देश में लॉकडाउन लागू है। लॉकडाउन के कारण उद्योग धंधे पूरी तरह से बंद हैं। श्रमिकों की समस्या के कारण खोलने की छूट के बावजूद बंद पड़े कार्यालयों पर ताले लटके पड़े हैं। अब उत्तर की योगी सरकार ने औद्योगिक क्षेत्र की ग्रोथ दर को प्रोत्साहित करने के लिए बड़ा कदम उठाया है।


सरकार ने प्रमुख श्रमिक कानूनों को शिथिल कर दिया है। सरकार ने एक अध्यादेश को मंजूरी दे दी है, जो प्रमुख श्रम कानूनों से छूट देता है. यह छूट तीन साल के लिए प्रभावी होगी. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में बुधवार को हुई बैठक में कैबिनेट ने इसे मंजूरी दे दी. श्रमिक संघों से संबंधित सभी महत्वपूर्ण कानून, काम के विवादों को निपटाने, काम करने की स्थिति, अनुबंध आदि को मौजूदा और नए कारखानों के लिए तीन साल तक निलंबित रखा जाएगा.


मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इस फैसले की जानकारी दी गई है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि लॉकडाउन के कारण प्रदेश में औद्योगिक और आर्थिक गतिविधियां बहुत ज्यादा प्रभावित हुई हैं. सभी उद्योग बंद रहे. ऐसे में औद्योगिक क्षेत्र की ग्रोथ को प्रोत्साहित करना बहुत महत्वपूर्ण है. मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से यह भी कहा गया है कि नया अध्यादेश मौजूदा उद्योगों, विनिर्माण इकाइयों और नई फर्मों पर भी लागू।


हालांकि, कुछ श्रम कानूनों को इस अध्यादेश की परिधि से बाहर रखा गया है. इनमें बॉन्डेड लेबर सिस्टम (उन्मूलन) अधिनियम 1976, कर्मचारी मुआवजा अधिनियम 1923, भवन और अन्य निर्माण श्रमिक अधिनियम 1996 के तहत सुरक्षा, स्वास्थ्य और कल्याण के उपाय और मजदूरी का समय पर भुगतान सुनिश्चित करने संबंधी मजदूरी अधिनियम 1936 अपने मूल स्वरूप में ही लागू रहेंगे. कर्मचारी मुआवजा अधिनियम में कार्य के दौरान किसी तरह की दुर्घटना का शिकार होकर दिव्यांग होने की स्थिति में मुआवजे का प्रावधान करता है।


सरकार की ओर से कहा गया है कि महिलाओं और बच्चों से संबंधित प्रावधान भी पहले की ही तरह लागू रहेंगे. श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने उम्मीद जताई कि इस निर्णय से औद्योगिक गतिविधियों और नए निवेश को बढ़ावा मिलेगा. इससे अन्य राज्यों से लौटे प्रवासी श्रमिकों को भी रोजगार मिल सकेगा. वहीं, सीपीआईएम के नेता सीताराम येचुरी ने इस फैसले के लिए यूपी सरकार पर श्रम को नष्ट करने का आरोप लगाया है।


येचुरी ने साधा पीएम पर निशाना


येचुरी ने ट्वीट कर कहा है कि जल्द ही भाजपा की सभी राज्य सरकारें श्रम कानूनों को ध्वस्त कर देंगी. महामारी से लड़ने के बहाने केंद्र की सरकार इसे राष्ट्रीय स्तर पर लागू करने के बहाने के तौर पर उपयोग करेगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि मोदी कहते हैं कि धन सृजन करने वालों का सम्मान करो. बता दें कि अन्य राज्यों से बड़ी तादाद में प्रवासी श्रमिक लौटे हैं, जिनके लिए रोजगार का इंतजाम करना भी सरकार के लिए बड़ी चुनौती है।


'एक राष्ट्र एक राशन कार्ड' की नीति

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच इन दिनों देशभर में राशनकार्ड पोर्टेबिलिटी की चर्चा हो रही है। देश के 15 से ज्यादा राज्यों ने राशनकार्ड पोर्टेबिलिटी को मंजूरी दे दी है. लेकिन सवाल है कि ये क्या है और इसका फायदा आम लोगों को कैसे मिलेगा। जिस तरह मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी करते हैं, वैसे ही अब राशन कार्ड को भी पोर्ट कराया जा सकेगा। मोबाइल पोर्ट में आपका नंबर नहीं बदलता है और आप देशभर में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। इसी तरह, राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी में आपका राशन कार्ड नहीं बदलेगा। मतलब ये कि एक राज्य से दूसरे राज्य में जाते हैं तो अपने राशन कार्ड का इस्तेमाल करके दूसरे राज्य से भी सरकारी राशन खरीद सकते हैं।


मान लीजिए कि सुधीर कुमार बिहार का निवासी है और उसका राशन कार्ड भी बिहार का है। वह इस राशन कार्ड के जरिए उत्तर प्रदेश या दिल्ली में भी उचित मूल्य पर सरकारी राशन खरीद सकेगा। मतलब कि किसी भी तरह की सीमा या नियमों का बंधन नहीं होगा। वह देश के किसी भी राज्य में राशन खरीद सकता है। अहम बात ये है कि इसके लिए किसी नए राशन कार्ड की जरूरत नहीं होगी। मतलब ये कि आपके पुराने राशन कार्ड ही इसके लिए मान्य होंगे।


बता दें कि उत्तर प्रदेश और बिहार समेत देश के 17 राज्यों ने राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी को लागू कर दिया है। इसे लागू करने वालों में आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, राजस्थान, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, गोवा, झारखंड और त्रिपुरा जैसे राज्य भी शामिल हैं। ये देशभर में 1 जून से लागू हो जाएगा। सरकार ने इसे एक राष्ट्र एक राशन कार्ड का नाम दिया है। इस योजना से सरकार को उम्मीद है कि भ्रष्टाचार पर लगाम लगेगी और फर्जी राशन कार्ड नहीं बन पाएगा। सरकारी आंकड़ों के अनुसार लगभग 75 करोड़ लाभार्थियों को इसके दायरे में लिया गया है जबकि लक्ष्य 81.35 करोड़ का था।


महंगाई राहत की रोक पर पुनर्विचार

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं वित्तमंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण को अलग-अलग पत्र भेजकर भारतीय राज्य पेंशनर्स महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष जेपी मिश्रा एवं राष्ट्रीय महामंत्री विरेंद्र नामदेव ने महंगाई राहत की रोक पर पुनर्विचार करने की मांग की है। जारी विज्ञप्ति में आगे बताया गया है कि भारत सरकार के द्वारा पेंशनरों को वर्ष में दो बार मिलने वाली महंगाई राहत की राशि पर एक जनवरी 2020 से घोषित चार प्रतिशत महंगाई राहत सहित जून 2021 तक रोक लगा दिया गया है।


जिससे देश भर के केंद्रीय पेंशनधारी परेशान हो गये हैं। केंद्र सरकार द्वारा लिया गया निर्णय राज्य सरकार लागू करती है तो राज्य के हजारों पेंशनर्स प्रभावित होंगे। पेंशनर्स महासंघ के सदस्य देश भर में कोरोना वायरस, महामारी से बचाव के लिए शासन को सहयोग कर रहे हैं। नामदेव ने विज्ञप्ति में बताया कि एक जनवरी 2020 से 30 जून 2020 तक अनेक कर्मचारी एवं अधिकारी सेवानिवृत्त हुए अथवा होंगे। जिसके चलते हर माह डीए का नुकसान एवं दूसरी तरफ सेवानिवृत्ति लाभ में 50 हजार से लेकर 3 लाख रुपये तक का नुकसान सेवानिवृत्ति पेंशनधारियों को उठाना पड़ेगा।


मालगाड़ी से कटकर 15 प्रवासियों की मौत

मालगाड़ी से कटकर पंद्रह प्रवासी श्रमिकों की मौत


महाराष्ट्र के औरंगाबाद के पास हुई घटना


शशि कोन्हेर


मुंबई। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में 15 प्रवासी श्रमिकों के मालगाड़ी की चपेट में आकर मौत हो जाने की बेहद दुखद खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि सभी मध्यप्रदेश के थे और वहीं जा रहे थे। यह सभी फैक्ट्री मजदूर थे और जालना से भुसावल पैदल ही जा रहे थे।उन्हें उम्मीद थी कि भुसावल से उन्हें ऐसी कोई ट्रेन (या फिर मालगाड़ी)मिल जाएगी। जो उन्हें उनके गृह प्रदेश मध्यप्रदेश तक ले जाएगी.
पैदल चलते चलते यह सभी काफी थक गए थे। और औरंगाबाद के पास करसाड नामक स्टेशन के पास ये सभी पटरी पर ही सो गए थे। उनका अनुमान था कि लॉक डाउन के कारण पटरी पर कोई ट्रेन नहीं आएगी। लेकिन थके मांदे ये लोग, जब गहरी नींद में थे उसी समय, उसी ट्रैक पर धड़धडाते आई मालगाड़ी, इन सभी के ऊपर से गुजर गई। और 15 प्रवासी श्रमिकों की मौत हो गई। वहीं दो अन्य श्रमिक बुरी तरह घायल हुए हैं।


क्वॉरेंटाइन से भागे 5, झारखंड पहुंचे

 छत्तीसगढ़ के क्वारेंटीन सेंटर से भागकर झारखण्ड पहुंचे 5 मजदूर निकले कोरोना पॉजिटिव,


आशुतोष झा


रांची(झारखंड)। छत्तीसगढ़ के क्वारंटीन सेंटर से भागकर झारखंड पहुंचे 5 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए है। इनकी जांच रांची मेडिकल कालेज में करायी गयी थी, जहाँ रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। ये मजदूर दूसरे राज्यों से छत्तीसगढ़ के रास्ते झारखंड जाने की कोशिश कर रहे थे, जिन्हें छत्तीसगढ़ सरकार के निर्देश पर सीमावर्ती जिलों में क्वारंटीन किया गया था। इन 5 लोगों को भी क्वारंटीन सेंटर में ही रखा गया था, लेकिन ये सभी मौका देखकर क्वारंटीन सेंटर से भाग गये थे। ये सभी झारखंड के पलामू के रहने वाले हैं। गुरूवार को पलामू में पांच नये कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है।जानकारी के अनुसार पॉजिटिव पाये गये लोग छत्तीसगढ़ के बैकुंठपुर के कोरिया से वहां पहुंचे थे। इनके बारे में प्रशासन को यह सूचना मिली थी कि सभी छत्तीसगढ़ के क्वारेंटाइन सेंटर से भाग गये हैं। इस सूचना पर सक्रिय होकर प्रशासन ने इन लोगों को पकड़कर इलाज के लिए तुंबागाड़ा के कोविड केयर सेंटर में भर्ती कराया था। इन पांच लोगों को मिलाकर राज्य में कोरोना संक्रमितों की संख्या 132 हो गयी है।


इस मामले में पलामू के उपायुक्त डॉ शांतनु कुमार अग्रहरि ने लोगों से कहा है कि लोग घबराए नहीं, संक्रमित पाये गये लोग यहां किसी बाहरी के संपर्क में नहीं थे।


पत्रकार सुरक्षा को लेकर सीएम को पत्र

बैकुंठपुर, विनीत जायसवाल। पत्रकारों की सुरक्षा व जीवन बीमा के लिए बैकुंठपुर विधायक श्रीमती अंबिका सिंहदेव ने प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को पत्र लिखा है। विधायक ने अपने मुख्यमंत्री को प्रेषित अपने पत्र में उल्लेखित किया है कि लाकडाउन के दौरान पत्रकार अपनी जान जोखिम में डालकर समाचारों का संकलन व प्रसारण कर रहे हैं। जिससे उन्हें कोरोना संक्रमण का खतरा है तथा उनकी जान भी जोखिम में हैं। संक्रमण कॉल में कोरोना से बचाव व रोकथाम में पत्रकारों की प्रमुख भूमिका है, ऐसी स्थिति में मानवीय पहलू को ध्यान में रखते हुए पत्रकारों का जीवन बीमा किया जाना आवश्यक है। उन्होंने मुख्यमंत्री से पत्रकारों के बीमा के संबंध में शीघ्र पहल किए जाने की बात कही है। उल्लेखनीय है कि कोविड 19 कोरोना के संक्रमण काल में भी पत्रकार अपनी जान की परवाह न करते हुए लगातार क्षेत्र में भ्रमण कर समाचार संकलन में लगे हुए हैं। तथा केंद्र, राज्य व जिला प्रशासन द्वारा जारी दिशानिर्देशों को खबरों के माध्यम से आम जनता तक पहुंचा रहे हैं। कोरोना संक्रमण काल में पत्रकारों को शासन प्रशासन द्वारा ना तो मास्क और ना ही सैनिटाइजर उपलब्ध कराया गया है। जिससे उनके संक्रमित होने का खतरा बढ़ गया है।


लाक डाउन के कारण पत्रकारों की आर्थिक स्थिति भी खराब हो गई है। कई पत्रकारों ने बताया कि लाकडाउन के चलते उन्हें आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। मैनेजमेंट द्वारा वेतन भत्तों में कटौती कर दी गई है। तालाबंदी व मंदी के चलते विज्ञापनदाताओं से उन्हें विज्ञापन का भुगतान भी नहीं मिल पा रहा है। जिससे उनके सामने जीवन यापन की विकट समस्या आ खड़ी हुई है। जिसे देखते प्रेस क्लब कोरिया के अध्यक्ष कमलेश शर्मा ने शासन-प्रशासन से आर्थिक पैकेज भी उपलब्ध कराए जाने की मांग की है।


एक्ट्रेस शर्लिन ने शिल्पा के बयान पर रिएक्ट किया

कविता गर्ग        मुबंई। पोर्नोग्राफी केस में बिजनेसमैन राज कुंद्रा जेल में हैं। राज कुंद्रा पर अश्लील फिल्में बनाकर उन्हें ओटीटी प्लेटफॉर्म...