बुधवार, 6 मई 2020

1688 की मौत, संक्रमित-49,333

नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। अब तक एक दिन में सबसे अधिक 199 लोगों की मौत के साथ ही देश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 49 हजार को पार कर गई है। अब कुल 49,333 केस हो गए हैं। संक्रमण के 2801 नए मरीज रिपोर्ट किए गए। वहीं मृतकों का आंकड़ा 1688 पहुंच गया है।


कोरोना वायरस की वजह से होने वाली मौत की दर बीते एक सप्ताह में बढ़ी है। 30 अप्रैल को जहां मृत्यु दर 3.2 प्रतिशत थी, तो वहीं मंगलवार को यह 3.4 प्रतिशत दर्ज की गई। मंगलवार को हुई मौत में से सबसे अधिक 79 केस पश्चिम बंगाल से सामने आए, जिसमें से राज्य सरकार ने 72 संदिग्ध मौतों को कोरोना डेटा में शामिल करने से इनकार किया है। राज्य सरकार ने इसके साथ ही गुजरात में 49 और महाराष्ट्र में 34 लोगों ने दम तोड़ दिया।


महाराष्ट्र में मंगलवार को 841 नए पॉजिटिव केस सामने आए। तमिलनाडु में 508 केस, गुजरात में 441 केस, पंजाब में 217 केस, दिल्ली में 206 नए मामले रिपोर्ट किए गए। पश्चिम बंगाल में भी 85 नए केस दर्ज होने के साथ राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 1344 पहुंच गई। हमारे सहयोगी टीओआई ने राज्य सरकार के डेटा के आधार पर यह आंकड़े तैयार किए हैं। कोरोना रिकवरी रेट भी बढ़ाः राहत की बात यह है कि केस बढ़ने के साथ धीरे-धीरे रिकवरी रेट यानी मरीजों के ठीक होने की दर भी बढ़ रही है। अब तक कोरोना वायरस से ठीक होने वालों की संख्या 13,991 हो गई है। अब रिकवरी रेट 28 फीसदी हो गया है।


सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन, इस्तीफा

लंदन। बिट्रेन में कोरोनोवायरस को लेकर लॉकडाउन की सलाह देने वाले ब्रिटेन के प्रमुख वैज्ञानिक नील फर्ग्यूसन ने सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने पर अपने पद से इस्तीफा दे दिया। महामारी के मामले में वे सरकार के प्रमुख सलाहकार थे। इनकी सलाह के बाद ही प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने देश में 23 मार्च से लॉकडाउन की घोषणा की थी।


उन्हें ‘प्रोफेसर लॉकडाउन’ के नाम से भी जाना जाता हैः डेली टेलीग्राफ की रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रोफेसर नील फर्ग्यूसन ने लॉकडाउन के दौरान एक महिला को दो अवसरों पर अपने घर आने दिया था। उन्होंने अपनी गलती स्वीकार की और कहा कि मुझे इसका बेहद अफसोस है। संक्रमण को रोकने के लिए सरकार सोशल डिस्टेंसिंग का संदेश दे रही है और मैंने इसका उल्लंघन किया। उन्हें ‘प्रोफेसर लॉकडाउन’ के नाम से भी जाना जाता है। उनकी संस्था सरकारों और डब्ल्यूएचओ को सलाह देती हैः उन्होंने कहा कि वे साइंटिफिक एडवाइजरी ग्रुप फॉर इमरजेंसी के पद से पीछे हट रहे हैं। वे सेंटर फॉर ग्लोबल इंफेक्शस डिजीज एनालिसिस के निदेशक हैं। बीबीसी के मुताबिक, इसी संस्था ने जनवरी में दुनिया को कोरोना के खतरे से आगाह किया था। यह संस्था सरकारों और डब्ल्यूएचओ को अफ्रीका में इबोला से लेकर कोरोना महामारी तक के मामलों में सलाह देती है। यहां अब तक 28 हजार से ज्यादा मौत हुईः उन्होंने कहा कि सरकार का आदेश हम सभी की सुरक्षा के लिए है। उनकी टीम ने रिसर्च के आधार पर कहा था कि देश में अगर तुरंत कार्रवाई नहीं हुई तो कोरोना से पांच लाख से ज्यादा मौतें हो सकती हैं। ब्रिटेन में अब तक 28 हजार से ज्यादा जान जा चुकी है। अमेरिका के बाद सबसे ज्यादा मौतें यहां हुई हैं। देश में केवल जरूरी चीजों की दुकानें खोलने की अनुमति है। नियमों का उल्लंघन करने वालों से जुर्माना भी लिया जाएगा।


यूपी में पेट्रोल-डीजल, शराब भी महंगी

लखनऊ। कोरोना वायरस के कारण हुई पूर्णबंदी से उत्तर प्रदेश सरकार अर्थव्यवस्था पटरी से उतर गई है। उसे ठीक करने के लिए सरकार ने कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। बुधवार को यूपी कैबिनेट की बैठक में पेट्रोल पर दो रुपये प्रतिलीटर और डीजल पर एक रुपये प्रति लीटर वैट बढ़ाने को मंजूरी दे दी गई। इसके अलावा देशी शराब की कीमत पांच रुपये बढ़ा दी गई है। मीडियम व प्रीमियम शराब की भी कीमतें बढ़ा दी गई हैं। बुधवार रात 12 बजे से बढ़ी हुई कीमतें लागू हो जाएंगी।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में उत्तर प्रदेश लोक स्वास्थ्य एवं महामारी रोग नियंत्रण अध्यादेश, 2020 को मंजूरी देने के साथ 10 महत्वपूर्ण प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना ने पत्रकारों से बातचीत में कहा, “लॉकडाउन के कारण हमारा टैक्स कलेक्शन बहुत गिरा है। हमारी आर्थिक स्थिति इस महीने कमजोर रही है। इसे ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है। हमारे लिए संसाधन जुटाना अति आवश्यक था। हमारी मांग 12141 करोड़ रुपये थी, जिसके सपेक्ष 1178 करोड़ रुपये हुआ।” उन्होंने बताया कि कैबिनेट ने देशी और अंग्रेजी शराब के साथ-साथ पेट्रोल और डीजल के दामों में भी वृद्धि की भी मंजूरी दी गई है। डीजल और पेट्रोल के दामों में वृद्धि से सरकार को 2070 करोड़ रुपये की अतिरिक्त आय होगी। इस क्रम में प्रति लीटर पेट्रोल और डीजल के दामों में क्रमश: दो और एक रुपये की वृद्धि को कैबिनेट ने मंजूरी दी है। इस वृद्धि के बाद उप्र में पेट्रोल 71.91 पैसे की जगह 73.91 रुपये व डीजल 62.86 पैसे की जगह 63.86 रुपये प्रति लीटर के भाव मिलेगा। इस वृद्धि से सरकार को 2350 करोड़ रुपये का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा। बढ़ी दरें रात 12 बजे से लागू हो जाएंगी।


इसी क्रम में प्रति बोतल देशी शराब के दाम में 5 रुपये की वृद्धि का फैसला भी कैबिनेट ने लिया है। विदेशी शराब (कोनामी) 180 एमएल तक 10 रुपये, 500 एमएल तक 20 रुपये व 500 एमएल से अधिक 30 रुपये महंगी होगी। रेगुलर 180 एमएल तक 20 रुपये, 500 एमएल तक 30 रुपये और 500 एमएल से अधिक 50 रुपये महंगी होगी। विदेशी शराब प्रीमियम 180 एमएल तक 100 रुपये, 500 एमएल तक 200 रुपये और 500 एमएल से अधिक 400 रुपये महंगी होगी। इससे 2359 करोड़ रुपये का फायदा होगा।


जिलें में 144 धारा, 31 तक लॉकडाउन

गाजियाबाद। गाजियाबाद में लॉकडाउन की गाइडलाइंस को 31 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया है। इसके साथ ही कोरोना वायरस और ईद के चलते धारा 144 भी लागू कर दी गई है।गाजियाबाद के जिलाधिकारी अजय शंकर पांडे ने मंगलवार को इससे संबंधित आदेश जारी किए हैं।


आदेश के मुताबिक, सार्वजनिक स्थानों पर थूकना दंडनीय अपराध होगा और फाइन भी वसूला जाएगा। सार्वजनिक जगहों पर बिना फेस कवर और मास्क के जाना दंडनीय अपराध होगा। सभी धार्मिक स्थल बंद रहेंगे। इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर भीड़ ना लगाए जाने के भी आदेश हैं।बता दें कि गाजियाबाद ऑरेंज जोन में आता है और केंद्र सरकार की ओर से जारी की गई गाइडलाइंस ही यहां पर लागू हो रही हैं। लॉकडाउन-3 में ऑरेंज जोन के लिए निर्धारित गाइडलाइंस एक दिन की देरी के बाद आज से ही लागू हुई है।


प्रसूति महिला कोरोना संक्रमित, दोनों भर्ती

इस्लामनगर/ गाजियाबाद। गाजियाबाद के नंदग्राम स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में डिलीवरी के बाद जांच में महिला कोरोना संक्रमित मिली। महिला और उसके नवजात शिशु को संयुक्त अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं प्रसव कराने वाले डॉक्टर समेत 25 मेडिकल स्टाफ, महिला के परिवार के सदस्य और अन्य मरीजों को क्वारंटाइन किया गया है।


इस्लामनगर में रहने वाली गर्भवती महिला नंदग्राम स्थित हेल्थ केयर अस्पताल में भर्ती थी। 16 अप्रैल को महिला ने एक बच्चे को जन्म दिया। महिला को जुकाम और खांसी की शिकायत थी। इसके चलते अस्पताल प्रशासन की ओर से एहतियातन गुरुग्राम की एक लैब से महिला का कोरोना टेस्ट कराया गया, जिसमें उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। शनिवार को अस्पताल की ओर से स्वास्थ्य विभाग को इस बारे में अवगत कराया गया। स्वास्थ्य विभाग की ओर से महिला और उसके बच्चे को संयुक्त जिला चिकित्सालय में बने कोविड लेवल-2 में भर्ती कराया गया है।


सीएमओ डॉ. एनके गुप्ता ने बताया के महिला की पॉजिटिव रिपोर्ट आने पर उसके घर पर जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम को पुलिस बल के साथ भेजा गया था। परिवार के सात लोगों को क्वारंटाइन किया गया है और उनके सैंपल को जांच लिए भेज दिए गए हैं। वहीं उसके घर के करीब एक किलोमीटर दायरे के क्षेत्र को सील किया जाएगा।


गाजियाबाद में संक्रमितो पर किया नियंत्रण

गाजियाबाद। गाजियाबाद में मंगलवार को कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 57 तक पहुंच गया। इनमें दो की मौत हो चुकी है और 50 मरीजों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। इनके अलावा 52 लोग स्वस्थ होकर घर भी चले गए हैं। स्वस्थ और पीड़ितों का आंकड़ा बराबर होने के चलते गाजियाबाद अभी भी ऑरेंज जोन में बना हुआ है। मगर श्रेणी की दृष्टि से बुधवार का दिन बहुत अहम है। दरअसल, शुक्रवार को यदि स्वस्थ होने वाले मरीजों से ज्यादा तादाद कोरोना पीड़ितों की हो गई तो गाजियाबाद फिर से रेड जोन में आ सकता है।


मार्च और अप्रैल में गाजियाबाद में हालात काबू में रहे। 30 अप्रैल तक 66 मरीज ही सामने आए, मगर पिछले पांच दिन 38 नए मरीज मिले हैं। इनमें पांच मरीज सबसे ज्यादा चिंता की वजह बने हैं। दरअसल इन पांचों को संक्रमण किससे मिला है, उनका पता नहीं चल पा रहा है। ऐसे में संक्रमण के तेजी से फैलने और गाजियाबाद के फिर से रेड जोन में जाने की आशंका कई गुना बढ़ गई है। सोमवार को नोएडा में खोड़ा के एक कोरोना मरीज की मौत हो गई। गौतमबुद्ध नगर के स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गाजियाबाद स्वास्थ्य विभाग को मौत की जानकारी देते हुए इसके वाहक को ढूंढने के लिए पत्र लिखा है। दूसरी ओर गाजियाबाद स्वास्थ्य विभाग वाहक ढूंढने की जिम्मेदारी नोएडा प्रशासन पर डाल रहा है।


शराब-दुकानें खोलने का विरोधः संसद

अपनी सरकार के खिलाफ आए बीजेपी सांसद, कहा- शराब बिक्री बंद करें


कानपुर के बीजेपी सांसद सत्यदेव पचौरी ने भी यूपी में शराब की दुकानें खोले जाने का विरोध किया है।
 
कानपुर। कानपुर लॉकडाउन के तीसरे चरण में केंद्र और राज्य सरकारों ने शराब की दुकानें खोलने की अनुमति दे दी है। देश के अलग-अलग इलाकों में इन दुकानों को खोलने और शराब की बिक्री को लेकर नियम-कायदों के साथ दुकानें खोली भी जारी रही हैं और शराब के शौकीन बड़ी तादाद में उमड़ रहे हैं। इन सबके बीच समाज का एक वर्ग इन दुकानों को खोलने के खिलाफ है। कानपुर के बीजेपी सांसद सत्यदेव पचौरी ने भी यूपी में शराब की दुकानें खोले जाने का विरोध किया है। उन्होंने इस बाबत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को एक पत्र भी लिखा है। इस पत्र में सांसद ने कहा है कि रेड जोन में शराब की बिक्री बंद की जाए।


महंत ओमकार देव गिरी का निधन

प्रयागराज। दारागंज स्थित भगवान वेणी माधव मंदिर के महंत श्री स्वर्गीय ओमकार देवगिरी जी का निधन विगत 3 दिनों से भगवान बेनी माधव मंदिर के महंत श्री ओमकार देव गिरी जी महाराज शहर के फिनिक्स अस्पताल में भर्ती थे। आज लगभग 8:00 बजे उनका आकस्मिक निधन हो गया महाराज श्री 90 वर्ष के ऊपर की अवस्था से भगवान वेणी माधव मंदिर की सेवा कर रहे थे भगवान बेनी माधव की शोभायात्रा विगत कई वर्षों से शहर की पहचान बन गई है। उसका आरंभ आप ही के कर कमलों के द्वारा होता रहा है।अभी-अभी विगत मास में वैश्विक बीमारी कोरोना वायरस के खिलाफ आपके ही नेतृत्व में प्रयागराज सेवा समिति के माध्यम से भव्य यज्ञ हुआ था जिसमें क्षेत्र वासी यो ने बढ़कर चढ़कर यज्ञ में आहुति डालकर विश्व कल्याण की कामना किए थे उनके निधन से प्रयागराज सेवा समिति के अध्यक्ष पंडित धर्मराज पांडे  ने शोक व्यक्त किया भाजपा सांस्कृतिक प्रकोष्ठ के जिला संयोजक तीर्थराज पांडेय बचा भैया ने कहा कि महाराज श्री मंदिर के अलावा  अखाड़े की परंपरा वा सामाजिक गतिविधियों में धार्मिक परंपराओं को बढ़ावा देने में सदैव तत्पर रहते थे उनके न रहने से हम सब ने अपना एक अभिभावक खो दिया मंदिर के पुजारी विजय तिवारी अभिषेक दुबे  ने मंदिर की पट बंद कर सभी को इस दुख की घड़ी  मैं भगवान वेणी माधव सभी को साहस प्रदान करें।


अलगः पेड़ की डाल टूटने से 2 घायल

पेड़ की डाल टूटने से दो अलग-अलग स्थानों में दो घायल


सीएससी में कराया गया भर्ती


सुनील पुरी


फतेहपुर। तेज आंधी पानी के चलते दो अलग-अलग स्थानों में पेड़ की डाली टूट जाने से दो युवक घायल हो गए जिनको इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया काफी देर चले विचार के बाद जब दोनों की हालत में सुधार हुआ तो परिजन वापस घर ले गए।


जानकारी के अनुसार कोतवाली क्षेत्र के सिलावन गांव में तेज आंधी के चलते एक बड़े पेड़ की डाल टूट कर गिर गई जिसमें इकबाल खान उम्र 26 वर्ष गंभीर रूप से घायल हो गए घायल युवक को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया वहीं दूसरी ओर तेज आंधी के ही चलते पेड़ की डाल टूट जाने से जाफर गंज थाना क्षेत्र के तेजी पुर गांव निवासी प्रदीप कुमार उम्र 28 वर्ष घायल हो गए निजी वाहन से लाकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया काफी देर दोनों का उपचार चलने के बाद जब हालत में सुधार हुआ तो परिजन वापस घर ले गए।


शहीद की जन्म स्थली पर नहीं है विकास

अमर शहीद मेजर सलमान खान की बरसी आज


परिजनों ग्रामीणों में नाराजगी अमर शहीद के जन्म स्थली में नहीं हुआ कोई विकास


सुनील पुरी


फतेहपुर। जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकवादियों से लड़ते समय 15 वर्ष पहले शहीद हुए मेजर सलमान खान की बरसी आज गुरुवार को है। इस मामले में परिजनों और ग्रामीणों इस बात की पीड़ा है कि अमर शहीद के जन्म स्थली में कोई खास विकास कार्य नहीं कराए गए।


बताते चलें कि सन 2005 में क्षेत्र के मिस्सी गांव के रहने वाले अमर शहीद मेजर सलमान खान जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में आतंकवादियों से मुकाबला करते समय शहीद हुए थे। जिस समय मेजर सलमान खान शहीद हुए थे उसमें तत्कालीन सरकार ने तमाम वादे किए थे कि उनके जन्मस्थली गांव का विकास कराया जाएगा क्षेत्र में उनके नाम पर तमाम काम कराए जाएंगे लेकिन अभी तक कोई खास प्रगति नहीं दिखाई दे रही अमर शहीद मेजर सलमान खान के बड़े भाई इकरार खान ने पीड़ा व्यक्त करते हुए कहा कि गांव में अमर शहीद मेजर सलमान खान के नाम पर बना पार पूरी तरह से जर्जर अवस्था में है कोई पेड़ नहीं लगे दरवाजे भी टूट गए हैं कोई कार शासन प्रशासन द्वारा नहीं कराया गया वहीं दूसरी ओर अमर शहीद मेजर सलमान खान के रिश्तेदार मिस्सी गांव निवासी बाबर खान जोकि कांग्रेस अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष हैं ने कहा कि कई बार शासन प्रशासन से कहा गया कि अमर शहीद मेजर सलमान खान के नाम से प्रस्तावित डिग्री कॉलेज बनवा जाए लेकिन वह भी अभी तक लंबित पड़ा हुआ है। गुरुवार को अमर शहीद मेजर सलमान खान की बरसी है ऐसे में उन्हें एक बार फिर याद किया जाएगा।


कहासुनी, 2 पक्षों के बीच तांंडव, घायल

अतुल त्यागी, प्रवीण कुमार 


हापुड़ में जरा सी कहासुनी को लेकर दो पक्षों में हुआ


जमकर विवाद काफी देर तक चला दोनों पक्षों के बीच तांडव कई लोग घायल अस्पताल में भर्ती।


हापुड़ पुलिस प्रशासन में उस वक्त हड़कंप मच गया जब थाना सिंभावली क्षेत्र के गांव मुरादपुर में फायरिंग होने की सूचना सहित कई लोगों को घायल होने की जानकारी प्राप्त हुई सूचना मिलते ही भारी पुलिस फोर्स मौके पर। बच्चों के खेल खेल में हुए विवाद को लेकर दो पक्ष आमने-सामने हो गए और दोनों पक्षों में ईट पत्थर और लाठी-डंडे सहित दोनों तरफ से फायरिंग हो गई और झगड़े में कई लोग घायल हो गए सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे आला अधिकारी घायलों को कराया पास के निजी अस्पताल में भर्ती। मौके पर पहुंचे एडिशनल एसपी सहित आला अधिकारी भारी पुलिस फोर्स के साथ घटना की जानकारी में जुटे आखिर कई राउंड फायरिंग कैसे हुई और हथियार कहां से आए फिलहाल पुलिस मामले की गंभीरता से जांच करते हुए आरोपियों की तलाश कर रही है।


शहीद के नाम पर सड़क का 'नामकरण'

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य के सेना और अर्द्धसैनिक बलों के जवानों की शहादत पर पत्नी व माता-पिता को 50 लाख रुपये की धनराशि, परिवार के एक सदस्य को नौकरी तथा शहीद के नाम पर एक सड़क का नामकरण किये जाने की घोषणा की है।


सरकारी प्रवक्ता ने बुधवार को यहां बताया कि योगी ने सेना और अर्द्धसैनिक बलों के जवानों की शहादत पर शहीद पत्नी व माता-पिता को 50 लाख रुपये की धनराशि तथा सरकारी नौकरी दिये जाने की घोषणा पहले ही की है। उन्होंने बताया कि राज्य में अब एक सड़क का नाम शहीद के नाम पर रखा जायेगा।


उन्होंने बताया कि गाजीपुर निवासी सी0आर0पी0एफ0 के शहीद जवान अश्विनी कुमार यादव के परिवार को भी शासकीय प्राविधानों के अनुरूप यह सभी सहायता उपलब्ध करायी जाएगी। गौरतलब है कि गत सोमवार को जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल(सीआरपीएफ) के तीन जवान शहीद हो गये थे। उसमें उत्तर प्रदेश के गाजीपुर निवासी अश्विनी कुमार यादव भी शामिल थे।


लॉकडाउन के उल्लंघन में 57 लोग अरेस्ट

लॉकडाउन के उल्लंघन में 57 लोग गिरफ्तार


गाजियाबाद। लॉकडाउन का उल्लंघन करने वाले 57 लोगों को शनिवार को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ अलग अलग कुल 10 मुकदमे दर्ज किए हैं। इसी क्रम में बेवजह सड़क पर दौड़ने वाले 191 वाहनों का पुलिस ने चालान किया है। जबकि 11 वाहन जब्त किए गए हैं। यह रिपोर्ट पुलिस के कमांड कार्यालय से जारी हुई है। पुलिस की रिपोर्ट में बताया गया है कि लॉकडाउन-2 में सख्ती बढ़ा दी गई है। बिना वजह सड़क पर निकलने वालों के खिलाफ लगातार मुकदमे और गिरफ्तारी की कार्रवाई हो रही है। शनिवार को पुलिस ने अलग-अलग स्थानों से 57 लोगों को गिरफ्तार किया।


जनपद गाजियाबाद में नया आदेश जारी

शहनवाज अली


गाजियाबाद। प्रदेश सरकार की ओर से लॉकडाउन-3 के दौरान पोर्टल पर ऑनलाइन अनुमति दिए जाने के आदेश को निरस्त करते हुए नया आदेश जारी किया है, जिसमें उद्यमी सिर्फ शपथ पत्र देकर उद्योग को संचालित कर सकते हैं। इनमें करीब 12 हजार से अधिक इकाईयां शामिल हैं। शर्त है कि इकाईयां कंटेंनमेंट जोन या फिर औद्योगिक क्षेत्र के अलावा शहरी क्षेत्र में स्थित न हों।


कोरोना से बचाव के लिए सरकार ने 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ ही कोविड-19 के तहत दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए पोर्टल पर ऑनलाइन प्रपत्रों को अपलोड कर अनुमति देने के आदेश जारी किए थे। इसमें औद्योगिक संगठनों ने उद्योग चलाने की अनुमति के लिए शर्तों को लेकर आपत्तियां लगा दी थी। शर्तों के साथ कंपनी चलाने की मंजूरीः जिले में दो दिन में जिला उद्योग केंद्र के पोर्टल पर कुल 1413 उद्योगों के लिए अनुमति मांगी गई और 587 को शर्तों के आधार पर मंजूरी दी गई। सरकार ने उद्यमियों की आपत्तियों को ध्यान में रखते हुए मंगलवार देर रात उद्योग चलाने के लिए सिर्फ शपथ पत्र के आधार पर ही मंजूरी देने का शासनादेश जारी कर दिया। बुधवार दोपहर तक करीब 70 उद्यमियों ने 34 शपथ पत्र जिला उद्योग केंद्र कार्यालय की हेल्प डेस्क पर जमा कराए, जबकि ई-मेल पर करीब 45 उद्यमियों ने शपथ पत्र भेजे। अभी तक करीब 2080 ऑनलाइन व ऑफलाइन उद्योग चलाने के लिए अनुमति व शपथ पत्र दाखिल किए गए हैं। इनमें हैवी, मीडियम, स्माल व माइक्रो इंडस्ट्री शामिल हैं। इनमें शर्त है कि यह औद्योगिक क्षेत्रों के अलावा शहरी क्षेत्र के बाहर ही स्थित हों। शहर के भीतर या कंटेंनमेंट जोन की इकाईयों को संचालित करने की अनुमति नहीं होगी। मौजूदा आदेश के बाद ऐसी करीब 12 हजार से अधिक इंडस्ट्रीज चलाई जा सकती हैं।


शपथ पत्र में यह देना जरूरीः हाल ही में उद्योग चलाने के लिए आए शासनादेश में सिर्फ शपथ पत्र देने के बाद उद्योग चलाने की अनुमति होगी। यह शपथ पत्र जिलाधिकारी के नाम होगा और जिला उद्योग केंद्र में जमा कराया जाएगा, जिसमें इकाई का नाम, कहां-कहां रजिस्ट्रेशन कराया है, कर्मचारी कितने हैं और उनके नामों की सूची एवं कोविड-19 के सभी दिशा-निर्देशों का पालन के साथ ही कंटेनमेंट जोन में न हो।


जिला उद्योग केंद्र के उपायुक्त बीरेंद्र कुमार ने बताया कि शासनादेश के अनुसार उद्योगों को शपथ पत्र देकर संचालित किया जा सकता है। इसमें कंटेंनमेंट जोन पर निगरानी की जरूरत होगी। अभी ऑनलाइन अनुमति में हर प्रपत्र को जांच परखकर अनुमति प्रदान की जा रही थी। अब यह देखना जरूरी होगा कि शपथ पत्र देने वाला प्रतिबंधित स्थान पर तो उद्योग नहीं चला रहा है। बावजूद इसके मौजूदा समय में उद्यमियों के साथ कर्मचारियों को भी जिम्मेदारी के साथ सावधानी बरतने की जरूरत है।


सीएम की झूठी खबर फैलने से सनसनी

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के निधन की झूठी खबर सोशल मीडिया पर फैलने से राज्य में सनसनी फैल गई। पूरी तरह स्वस्थ मुख्यमंत्री के बारे में इस तरह की अफवाह फैलाने वाले की तलाश शुरू हो गई है। राज्य के पुलिस महानिदेशक, अपराध एवं कानून व्यवस्था अशोक खुमार ने संवाददाताओं को बताया कि इस मामले में पुलिस अधीक्षक देहरादून को मामला दर्ज कर, दोषी को गिरफ्तार करने के आदेश दे दिये गये हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वालों को किसी भी सूरत में बक्शा नहीं जाएगा। ऐसे लोगों पर कठोर से कठोर कार्यवाही की जाएगी।


3 माह के भीतर भर्ती प्रक्रिया पूरी की जाए

लखनऊ। इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के प्राथमिक स्कूलों में 69000 सहायक शिक्षकों की भर्ती मामले में सरकार द्वारा तय किए गए मानकों पर मुहर लगाई है। न्यायालय ने राज्य सरकार को आदेश दिया है कि तीन माह के भीतर भर्ती प्रक्रिया पूरी की जाए। न्यायालय ने कटऑफ अंक बढ़ाने के सरकार के फैसले को सही बताया है।


न्यायमूर्ति पंकज कुमार जायसवाल और न्यायमूर्ति करुणेश सिंह पवार की खंडपीठ ने सरकार द्वारा तय किए गए मानकों पर मुहर लगाई। न्यायालय ने सरकार द्वारा तय किये गये मानको 90/97 पर मुहर लगाते हुये तीन माह के भीतर भर्ती प्रक्रिया पूरी करने का आदेश दिया। इस आदेश के तहत सामान्य वर्ग के अभ्यर्थी 65 फीसद और अन्य आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थी 60 फीसद अंक पाकर उत्तीर्ण होंगे।


हमले पर 6 माह से लेकर 10 साल की सजा

लखनऊ। कोराना योद्धाओं की सुरक्षा को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार ने बड़ा कदम उठाया है। बुधवार को हुई कैबिनेट की बैठक में उत्तर प्रदेश लोक स्वास्थ्य एवं महामारी रोग नियंत्रण अध्यादेश, 2020 को मंजूरी दे गई है। इस नए कानून के तहत चिकित्सक, स्वास्थ्यकर्मियों, पुलिसकर्मियों और स्वच्छताकर्मियों के साथ ही शासन की तरफ से तैनात किसी भी कोरोना योद्धा से अभद्रता या हमले पर 6 माह से लेकर 7 साल तक की सजा का प्रावधान और 50 हजार से लेकर 5 लाख तक का जुर्माना हो सकता है।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैबिनेट की बैठक हुई। इसमें उत्तर प्रदेश लोक स्वास्थ्य एवं महामारी रोग नियंत्रण अध्यादेश, 2020 पर मुहर लगी है। नए कानून में चिकित्सक पैरामेडिकल स्टाफ , पुलिसकर्मियों, स्वच्छताकर्मी और सरकार द्वारा तैनात किसी भी कोरोना वारियर से अभद्रता या हमला करने वाले के लिए सात साल तक कैद और पांच लाख तक के जुर्माने की सजा का प्रावधान किया गया है। इसके साथ ही राज्य और जिला स्तर पर महामारी नियंत्रण प्राधिकरण गठित करने का निर्णय लिया गया है। राज्य स्तर पर मुख्य सचिव और जिले में जिलाधिकारी प्राधिकरण के अध्यक्ष होंगे। चिकित्सकों, सफोईकर्मियों, पुलिसकर्मियों एवं किसी भी कोरोना वॉरियर्स पर थूकने और आइसोलेशन तोड़ने पर भी इस कानून के तहत कड़ी कार्रवाई होगी। इस कानून के तहत कोरोना योद्धा के खिलाफ समूह को उकसाने या भड़काने पर भी कार्रवाई हो सकती है। इसके तहत दो वर्ष से पांच वर्ष तक की सजा का और पचास हजार से 2 लाख तक का जुर्माने का प्रावधान है। इस नए अध्यायदेश के अनुसार, मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में राज्य महामारी नियंत्रण प्राधिकरण बनेगा, जिसमें मुख्य सचिव सहित सात अन्य अधिकारी सदस्य होंगे। दूसरा तीन सदस्यीय जिला महामारी नियंत्रण प्राधिकरण होगा, जिसके अध्यक्ष डीएम होंगे। राज्य प्राधिकरण महामारी के रोकथाम नियंत्रण से संबंधित मामलों में सरकार को परामर्श देगा, जबकि जिला प्राधिकरण जिले में विभिन्न विभागों के क्रियाकलापों के साथ समन्वय स्थापित करेगा।


कोरोना महामारी को देखते हुए क्वारंटाइन का उल्लंघन करने पर एक से तीन साल की सजा और जुर्माना दस हजार से एक लाख तक का होगा। अस्पताल से भागने वालों के खिलाफ एक वर्ष से तीन वर्ष सजा और जुर्माना दस हजार एक लाख तक होगा। अस्पतालों और क्वारंटाइन सेंटरों में अश्लील एवं अभद्र आचरण करने पर एक से तीन साल की सजा और पचास हजार से एक लाख तक का जुर्माना होगा। इसमें लॉकडाउन तोड़ने और इस बीमारी को फैलाने वालों के लिए भी कठोर सजा का प्रावधान है। अध्यादेश के मुताबिक, अगर कोई कोरोना मरीज स्वयं को छिपाएगा तो उसे 1 वर्ष से लेकर 3 वर्ष की सजा हो सकती है और 50 हजार से एक लाख तक का जुर्माना लगाया जा सकता है। अगर कोरोना मरीज जानबूझ कर सार्वजनिक परिवहन के माध्यम से यात्रा करता है तो उसके लिए 1 से 3 साल तक की सजा और 50 हजार से 2 लाख तक का जुर्माना देना पड़ सकता है।


खर्च आंकड़ों के विश्लेषण का हवाला

नई दिल्ली। गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स लागू होने के बाद एक भारतीय परिवार को अनाज, खाद्य तेल और सौंदर्य प्रसाधनों समेत अन्य रोजमर्रा जरूरत के सामानों की 8,400 रुपये की मासिक खरीद पर टैक्स में औसतन 320 रुपये तक की बचत हो रही है।


वित्त मंत्रालय के एक सूत्र ने उपभोक्ता खर्च आंकड़ों के विश्लेषण का हवाला देते हुए यह बात कही। सरकार ने 1 जुलाई 2017 को जीएसटी लागू किया था, जिसके बाद बिक्री कर या वैट और उत्पाद शुल्क जैसे 17 अलग-अलग केंद्रीय और राज्य कर जीएसटी में समा गए थे। सूत्र ने कहा कि रोजमर्रा उपयोग की वस्तुओं और सेवाओं पर टैक्स को कम रखा गया है, जिसके चलते उपभोक्ताओं को मासिक खर्च में बचत हो रही है। अगर एक परिवार जीएसटी लागू होने के बाद 10 उत्पादों अनाज, खाद्य तेल, चीनी, चॉकलेट, नमकीन और मिठाई, सौंदर्य प्रसाधन, वॉशिंग पाउडर, टाइल्स, फर्नीचर और दरी-कालीन जैसे कॉयर उत्पादों एवं अन्य घरेलू उत्पादों की मद में एक महीने में 8,400 रुपये खर्च करता है तो उसकी मासिक बचत 320 रुपये होगी। उसने कहा कि 8,400 रुपये की वस्तुओं पर जीएसटी के तहत 510 रुपये का टैक्स बनता है जबकि जीएसटी के पहले इस पर 830 रुपये का टैक्स बनता था। इस लिहाज से ग्राहकों की 320 रुपये की बचत होगी।


भारत और इस्राइल को करीब किया

कोरोना संकट ने भारत और इस्राइल को करीब ला दिया- भारत में इस्त्राइल के राजदूत


नई दिल्ली। कोरोना संकट ने भारत और इस्राइल को करीब ला दिया है। दोनों देश कोरोना ले लड़ने के बेहतरीन तरीके साझा कर रहे हैं और नई प्रक्रियाएं अपना रहे हैं। कोरोना वायरस की वैक्सीन बनाने को लेकर उन्होंने कहा कि मुझे इसके डिटेल्स की प्रतिक्षा है। इस प्रक्रियाओं को अंतिम रूप नहीं दिया गया है। हम एडवान्सड स्टेज पर हैं। हां, हम निश्चित रूप से इसे दुनिया के साथ साझा करेंगेः भारत में इस्राइल के राजदूत रॉन मलका।


पश्चिम बंगाल में 15 लैब है, जिनमें 10 सरकारी और 5 निजी है। सभी में कोरोना वायरस के लिए टेस्ट किए जा रहे हैं। हर दिन टेस्ट औसत 2500 टेस्ट किए जा रहे हैं: अलपन बंद्योपाध्याय, पश्चिम बंगाल के गृह सचिव


कोरोना ने देशभर में अब तक लगभग 548 डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स को संक्रमित किया। केंद्र द्वारा बनाए गए आंकड़ों के मुताबिक, कोरोना वायरस ने देशभर में अब तक लगभग 548 डॉक्टरों, नर्सों और पैरामेडिक्स को संक्रमित किया है।


विदेश में फंसे यात्री, गाइडलाइन जारी

दिल्ली सरकार ने विदेश में फंसे वापस आने वाले यात्रियों के लिए गाइडलाइन जारी की


नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने 'विदेश मंत्रालय द्वारा विदेश में फंसे भारतीयों की वापसी की योजना के मद्देनजर विदेश से आने वाले यात्रियों को हैंडिल करने और दिल्ली हवाई अड्डे पर उतरने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं।'


हमने असम के लोगों को वापस लाने के लिए सात ट्रेनों का प्रस्ताव दिया है, जो देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे हुए हैं। ट्रेनें सात मई के बाद शुरू होंगी। हमारी प्राथमिकता छात्रों, मरीजों और तीर्थयात्रा पर जाने वाले लोगों को वापस लाना है: असम के मंत्री चंद्र मोहन पटवारी


'बुध परिपथ' पर सरकार को लताड़ा

संसदीय समिति ने सरकार को लताड़ा


नई दिल्ली। दुनियाभर में आकर्षण का केंद्र रहे भगवान बुद्ध के जीवन दर्शन से जुड़े प्रमुख स्थलों को टूरिजम मैप से जोड़ने वाली महत्वाकांक्षी योजना 'बुद्ध परिपथ' (सर्किट) वित्तीय आवंटन की भारी कमी से जूझ रही है। संसद की एक समिति ने 1985 में शुरू की गई इस योजना के लिए बेहद कम राशि का आवंटन करने को लेकर सरकार को आड़े हाथों लिया है। दरअसल, बुद्ध परिपथ परियोजना के लिए पर्यटन मंत्रालय ने चालू वित्त वर्ष में अब तक महज एक लाख रुपये जारी किए हैं। समिति ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा, 'एक निवेशयोग्य, सम्मान के हकदार, जीवंत और व्यवहार्य पर्यटन गंतव्य के रूप में बौद्ध परिपथ के विकास के लिए यह लापरवाहीपूर्ण रवैये का उदाहरण है।'


ट्रांसपोर्ट, टूरिजम और कल्चर संबंधी संसद की स्थायी समिति की रिपोर्ट में परियोजना की धीमी गति का जिक्र करते हुए यह जानकारी दी गई है। 'भारत में बौद्ध परिपथ के विकास' पर संसद के दोनों सदनों में शुक्रवार को पेश रिपोर्ट के अनुसार, पर्यटन मंत्रालय द्वारा वित्तीय वर्ष 2018-19 में बौद्ध परिपथ के विकास के लिए 0.01 करोड़ रुपये की नाममात्र की राशि आवंटित की गई है। तृणमूल कांग्रेस के डेरेक'ब्रायन की अध्यक्षता वाली समिति की रिपोर्ट के अनुसार, पर्यटन मंत्रालय के पास इस साल 2150 करोड़ रुपये का कुल बजट है। इसमें से 1100 करोड़ रुपये 'स्वदेश दर्शन योजना' और 150 करोड़ रुपये 'प्रसाद योजना' के लिए आवंटित किए गए हैं। 


कृषि उत्पादन-सुरक्षा को रेखांकित किया

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि नोवल कोरोना विषाणु से फैली वैश्विक महामारी ने कृषि उत्पादन एवं खाद्य सुरक्षा के महत्व को पुनः रेखांकित किया है। आनंदीबेन पटेल ने चन्द्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कानपुर द्वारा ‘‘कोविड-19 वैश्विक महामारी प्रबन्धन के लिए कृषि उत्पादन एवं सहयोगी प्रणाली: अनुभव साझेदारी एवं रणनीतियां” विषयक तीन दिवसीय राष्ट्रीय वेबकाॅन को राजभवन से सम्बोधित कर रहीं थीं। राज्यपाल ने कहा कि राज्य सरकारों के सामने उत्पादन एवं आपूर्ति चेन को बनाये रखना बड़ी चुनौती है। उन्होंने कहा कि देश में कृषि उत्पादों को उपभोक्ताओं तक पहुंचाना तथा कृषि विकास की सतत् प्रक्रिया को जारी रखना केन्द्र एवं राज्य सरकार की पहली प्राथमिकता है।


राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि कोविड 19 लाॅकडाउन के कारण खाद्य आपूर्ति श्रृंखला में शिथिलता आने के कारण वैश्विक कुपोषण की समस्या एक दूसरा पक्ष भी है। सरकार एवं गैर सरकारी संस्थाएं सबको भोजन उपलब्ध कराने का प्रयास कर रही हैं परन्तु इसमें जन-सहभागिता भी आवश्यक है। देश व प्रदेश की सरकारें प्रसार सेवाओं के माध्यम से भी कृषि उत्पाद को बेचने, खरीद में किसान उत्पादक संघों द्वारा कृषि उत्पादनों के उचित दाम प्राप्त करने के लिए प्लेटफार्म तैयार कर एवं गांव से शहरों की ओर पलायन रोकने के लिए समुचित कदम उठा रही हैं।


उन्होंने कहा कि फसलों में कटाई के बाद होने वाले नुकसान को रोकने के लिए वेयर हाउस, कोल्ड स्टोरेज, कोल्ड चेन सुविधा द्वारा दूध एवं अन्य शीघ्र नष्ट होने वालों पदार्थों को हानि से बचाने के लिए क्षमता विकास एवं उचित बाजार मूल्य उपलब्ध कराने की आज बड़ी आवश्यकता है। आनंदीबेन पटेल ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये शारीरिक रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये जाने के लिए आयुष मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा औषधीय एवं सगंधीय पौधों के उपयोग के परामर्श पर बल देते हुये कहा कि हल्दी, अदरक, लहसुन, चुकन्दर, आंवला, पालक, ब्रोकली, नींबू वर्गीय फल, अनार, पपीता, पोदीना, तुलसी, अश्वगंधा, सौफ, लौंग, कालीमिर्च एवं गिलोय जैसे हर्बल उत्पादों का प्रयोग कर वायरस जन्य बीमारियों के विरूद्ध प्रतिरक्षण प्रणाली को सुदृढ़ करने की आवश्यकता है।


उन्होंने कहा कि कोविड 19 महामारी एवं लाॅकडाउन के समय कृषि संयुक्त प्रणाली की उपयोगिता अत्यन्त महत्वपूर्ण हो गयी है। इसके तहत दूर संवेदन प्रणाली, कृषि विपणन, कृषि कार्यों में आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस, कृषि ड्रोन एवं परिशुद्ध खेती आदि के अनुसंधान एवं इसके उपयोग को बढ़ावा देने की नितान्त आवश्यकता है, जिससे भविष्य में आने वाली प्राकृतिक आपदाओं के समय भी कृषि व्यवस्था को सुदृढ़ रखा जा सके। प्रतिकूल मौसम से बचने एवं अनुकूल मौसम से अधिकाधिक लाभ प्राप्त करने के लिए किसानों को मौसम आधारित कृषि परामर्श सेवाएं एवं एसएमएस सेवा द्वारा कृषि पूर्वानुमान उपलब्ध कराया जाये। राज्यपाल ने विश्वास व्यक्त किया कि सम्मेलन के विभिन्न व्याख्यानों एवं चर्चाओं के आदान-प्रदान एवं कृषि वैज्ञानिकों की संस्तुतियों से देश की कृषि उत्पादन एवं सहयोगी प्रणाली को सुदृढ़ करने में निश्चित रूप से सहयोग मिलेगा।


इससे पूर्व प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने सम्मेलन को ऑनलाइन सम्बोधित करते हुये कहा कि मौसम परिवर्तन से कृषि फसलों को हो रही क्षति से किसानों को कैसे बचाया जाये, इस पर विशेष मंथन किए जाने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादकता में वृद्धि हेतु कृषि वैज्ञानिकों द्वारा इस तरफ विशेष ध्यान देकर ऐसी तकनीक एवं अधिक उत्पादन देने वाले उन्नतशील बीज तैयार किए जाने की आवश्यकता है, जिससे प्रति हेक्टेयर पैदावार में अपेक्षित वृद्धि हो सके क्योंकि प्रति हेक्टेयर पैदावार में हम बांग्लादेश व श्रीलंका जैसे पड़ोसी देशों से भी पीछे हैं। इस वेबकाॅन में पद्म विभूषण डा0 राम बदन सिंह, पद्मश्री डा0 ब्रह्म सिंह, कुलपति चन्द्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय डाॅ0 डी आर सिंह सहित कृषि वैज्ञानिक एवं विशेषज्ञ, छात्र-छात्राएं भी उपस्थित थे। इस अवसर पर राज्यपाल ने एक स्मारिका का ऑनलाइन विमोचन भी किया।


10 उड़ानों से 2300 की होगी वापसी

नई दिल्ली। विदेशों में फंसे भारतीयों को स्वदेश लाने के लिए गुरुवार से शुरू हो रहे मिशन के पहले दिन 10 उड़ानों में करीब 2,300 यात्रियों की वतन वापसी होगी। नागरिक उड्डयन मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार, 07 मई को सरकारी विमान सेवा कंपनी एयर इंडिया सात और उसकी सहयोगी कंपनी एयर इंडिया एक्सप्रेस तीन उड़ानों का परिचालन करेगी। इनमें लगभग 2,300 लोगों को लाये जाने की योजना है।


बोर्डिंग से पहले हर यात्री की स्क्रीनिंग की जायेगी और जिनमें कोविड-19 के लक्षण होंगे उन्हें टिकट होने के बावजूद विमान में सवार होने की अनुमति नहीं दी जायेगी। संयुक्त अरब अमीरात के अबुधाबी से एक उड़ान कोच्चि के लिए और दुबई से एक उड़ान कोझिकोड़ के लिए रवाना होगी। दोनों में 200-200 यात्रियों को लाया जायेगा और उनका परिचालन एयर इंडिया एक्सप्रेस करेगी।


एयर इंडिया एक्सप्रेस की तीसरी उड़ान कतर के दोहा से कोच्चि के लिए होगी जिसमें 200 लोगों को स्वदेश लाया जायेगा। एयर इंडिया सऊदी अरब के रियाद से कोझिकोड़ (200 यात्री), ब्रिटेन के लंदन से मुंबई (250 यात्री), सिंगापुर से मुंबई (250 यात्री), मलेशिया के कुआलालम्पुर से दिल्ली (250 यात्री), अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से मुंबई होते हुये हैदराबाद (300 यात्री), फिलिपींस के मनीला से अहमदाबाद (250 यात्री) और बंगलादेश के ढाका से श्रीनगर के लिए (200 यात्री) एक-एक विमानों का परिचालन करेगी।


विदेशों से भारतीयों को लाने के सरकार के फैसले के बाद नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने मंगलवार को बताया कि पहले एक सप्ताह में 07 मई से 13 मई के बीच 64 विशेष उड़ानों में 12 देशों से 14,800 भारतीयों को स्वदेश लाने की योजना है। इन यात्रियों को किराये का खर्च स्वयं वहन करना होगा। किराया मंत्रालय की ओर से तय किया गया है। अमेरिका से भारत का किराया एक लाख रुपये और ब्रिटेन से 50 हजार रुपये रखा गया है।


27 हजार से अधिक लोगों को उनके देश भेजा गया
दिल्ली हवाई अड्डे से अब तक 27,500 से ज्यादा विदेशियों को उनके देश भेजा जा चुका है। दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (डायल) के एक प्रवक्ता ने बताया कि 25 मार्च को पूरे देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद से नियमित वाणिज्यिक उड़ानें भले बंद हैं, लेकिन विशेष उड़ानों से अब तक 44 देशों के नागरिकों को दिल्ली हवाई अड्डे के रास्ते वायु मार्ग से स्वदेश भेजने की व्यवस्था की गयी है। इन उड़ानों में चार मई तक 27,500 से अधिक लोगों को भेजा गया है।


अलग-अलग मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में बुधवार को सुरक्षा बलों की ओर से चलाये गए घेराबंदी और तलाश अभियान (कासो) में दो अलग-अलग स्थानों में मुठभेड में तीन आतंकवादी मारे गए और दूसरी जगह मुठभेड़ में शीर्ष आतंकवादी कमांडर को सुरक्षा बलों ने घेर लिया है। इस दौरान जिले में कानून और व्यवस्था की स्थिति बिगड़ने के डर से भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) सहित सभी सेलुलर कंपनियों की मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बुधवार को कश्मीर घाटी में सुरक्षा कारणों से स्थगित कर दी गई और श्रीनगर सहित कई इलाकों में कर्फ्यू लगा दिया गया है।


 
एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मंगलवार रात आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में विश्वसनीय सूचना मिलने के बाद अवंतिपोरा के बेघपोरा में दूसरा घेराबंदी एवं तलाशी अभियान शुरू किया गया। बुधवार सुबह आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ शुरू हुई। उन्होंने बताया कि आतंकवादियों के एक शीर्ष कमांडर को घेर लिया गया है। उन्होंने बताया कि एक आंतकवादी मुठभेड़ में मारा गया। मारे गए आतंकवादी की पहचान की जा रही है।


सेना के एक अधिकारी ने कहा कि आतंकवादियों के छिपने की खुफिया सूचना के आधार पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी), सेना और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने कल रात पुलवामा के अवंतिपोरा के शारसली गांव में घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू किया। उन्होंने कहा जब सुरक्षा बल आंतकवादियों के छिपे हुए इलाके की ओर बढ़ रहे थे तभी आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से सुरक्षा बलों पर हमला कर दिया। सेना की जवाबी कार्रवाई के साथ ही मुठभेड़ शुरू हो गयी और मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गये। अभियान अभी भी जारी है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि श्रीनगर के पुराने इलाके सहित घाटी के कई इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है। एक स्थानीय व्यक्ति ने यूनीवार्ता को बताया कि सुरक्षा बल लाउडस्पीकर के जरिये घोषणा करते हुए लोगों से घरों के अंदर रहने की अपील कर रहे हैं। हिजबुल के शीर्ष कमांडर और घाटी में आतंकवाद के पोस्टर ब्यॉय बुरहान वानी के मारे जाने के बाद जुलाई 2016 से नायकू संगठन का स्वयंभू प्रमुख बन बैठा था। उस पर 12 लाख रुपये का इनाम घोषित था और सुरक्षा बल एवं पुलिस उसकी पिछले आठ वर्षाें से तलाश कर रही थी। वह सोशल मीडिया पर आडियो क्लिप जारी कर युवकों काे आतंकवाद की राह पर आने के लिए प्रेरित भी करता था।


सेना के एक अधिकारी ने कहा कि आतंकवादियों के छिपने की खुफिया सूचना के आधार पर जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह (एसओजी), सेना और केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने मंगलवार की रात पुलवामा के अवंतिपोरा के शारसली गांव में घेराबंदी और तलाश अभियान शुरू किया। उन्होंने कहा जब सुरक्षा बल आंतकवादियों के छिपे हुए इलाके की ओर बढ़ रहे थे तभी आतंकवादियों ने स्वचालित हथियारों से सुरक्षा बलों पर हमला कर दिया। सेना की जवाबी कार्रवाई के साथ ही मुठभेड़ शुरू हो गयी और मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गये।


आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि श्रीनगर के पुराने इलाके सहित घाटी के कई इलाकों में कर्फ्यू लगाया गया है। एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लागू लॉकडाउन के कारण लोगों के आवागमन तथा उन्हें एकत्र होने पर पाबंदियां लागू हैं।


'पीएम केयर फंड' में पारदर्शिता जरूरी

नई दिल्ली। कांग्रेस लगातार पीएम केयर फंड पर सवाल उठा रही है। पहले जहां पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा था कि इसका इस्तेमाल प्रवासियों के कल्याण के लिए किया जाना चाहिए, वहीं अब बुधवार को कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि कोष को ‘पारदर्शी’ बनाया जाना चाहिए।


सिंघवी ने ट्वीट किया, पीएमओ इंडिया, नरेंद्र मोदी और एचएमओ इंडिया से पीएम केयर द्वारा दान के रूप में ली गई कुल राशि के हिसाब-किताब के बारे में पूछे हुए एक सप्ताह से अधिक समय हो गया है, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ है।सिंघवी ने कहा कि ‘पीएमओ की इस खास योजना को पारदर्शी होना चाहिए।’


उन्होंने कहा कि वैसे तो सरकार गुजरात में सिर्फ एक सार्वजनिक कार्यक्रम के लिए परिवहन, भोजन आदि पर लगभग 100 करोड़ रुपये खर्च कर सकती है और रेल मंत्रालय पीएम के कोरोना फंड में 151 करोड़ रुपये दान कर सकता है, तो फिर संकट की इस घड़ी में मुफ्त रेल यात्रा के बारे में क्यों नहीं सोचा जा रहा।


इससे पहले चार मई को सोनिया गांधी ने एक बयान में कहा था कि संकट की इस घड़ी में भारत सरकार और रेल मंत्रालय घर वापस लौटने के लिए लोगों से रेल यात्रा का किराया और स्पेशल चार्ज वसूल कर रहे हैं। सोनिया गांधी ने कहा कि इसलिए कांग्रेस पार्टी ने फैसला किया है कि इस तरह के विकट हालात देखकर कांग्रेस पार्टी हर प्रदेश में जरूरतमंद श्रमिक भाइयों और बहनों के घर लौटने के लिए रेल यात्रा का खर्च उठाएंगे। साथ ही सोनिया ने उम्मीद जताई कि प्रवासी भाई बहन सब जल्दी से जल्दी अपने प्रियजनों के पास पहुंच पाएंगे।


उन्होंने कहा था, मुझे उम्मीद थी कि दान के नाम पर आने वाले हजारों करोड़ का उपयोग राष्ट्र निमार्ताओं के लिए किया जाएगा और उन्हें मुफ्त यात्रा प्रदान की जाएगी, लेकिन मुझे दुख है कि ऐसा नहीं किया गया है।


यूपी में पेट्रोल 2 डीजल 1 रूपये महंगा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने लॉकडाउन के चलते हुए आर्थिक नुकसान की भरपाई के लिए पेट्रोल डीजल पर वैट बढ़ा दिया है। इससे यहां पेट्रोल 2 रुपए और डीजल 1 रुपए प्रति लीटर महंगा हो गया है।यूपी के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने बताया कि 71.91 पैसे रुपए पेट्रोल की कीमत है 2 रुपए महंगा होने के बाद यह 73.91 पैसे हो जाएगा। डीजल की कीमत 62.85 रुपए प्रति लीटर से बढ़कर 63.86 रुपए प्रति लीटर हो जाएगी। कीमत आज रात 12 बजे से लागू होगी। यह निर्णय राज्य के संसाधनों को बढ़ाने के लिए लिया गया है।इससे पहले केंद्र सरकार ने मंगलवार रात को पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 10 रुपए प्रति लीटर और डीजल पर उत्पाद शुल्क 13 रुपए प्रति लीटर बढ़ा दिया। इसका ग्राहकों की जेब पर बोझ तो नहीं पड़ा, लेकिन इस बढ़ोतरी के बाद लोगों को अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की घटी कीमतों का कोई भी फायदा नहीं मिल पाएगा।
दिल्ली सरकार ने की शुरुआत
मंगलवार को दिल्ली सरकार के ईंधन पर वैट (मूल्य वर्द्धित कर) बढ़ाने की घोषणा की। इसके बाद दिल्ली में पेट्रोल 1.67 रुपये और डीजल 7.10 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया। इसके बाद दिल्ली में डीजल का भाव मेट्रो शहरों में सबसे ऊंचा हो गया है। हालांकि पेट्रोल अभी भी सभी मेट्रो शहरों से सस्ता बना हुआ है।


रानी के इस्तीफे से सियासत गरमाई

लॉकडाउन में ढील मिलते ही व्यक्तिगत सुरक्षा का कारण बताकर इस्तीफा दिया था रानी नागर ने
नई दिल्ली/चंडीगढ़। हरियाणा 2014 कैडर की आईएएस रानी नागर के इस्तीफे पर सियासत गरमा गई है। रानी नागर के बचाव में विपक्षी दल कांग्रेस के पूर्व विधायक ललित नागर व यूपी की पूर्व सीएम मायावती आ गई है। मायावती ने तो ट्वीट करते हुए हरियाणा के सीएम को कहा है कि महिला सुरक्षा व सम्मान के मामले में ऐसी सरकारी उदासीनता व अन्यों की चुप्पी क्यों? बता दें कि रानी नागर ने अपनी जान को खतरा बताते हुए लॉकडाउन खत्म होने के बाद आईएएस के पद से इस्तीफा दे दिया था और अपने शहर गाजियाबाद चली गई थी। 
हरियाणा की महिला आईएएस अफसर रानी नागर को, ’नौकरी के दौरान अपनी जान को खतरा’ के कारण अन्ततः अपनी नौकरी से ही इस्तीफा देकर वापस अपने घर यूपी लौट आना पड़ा है, जो अति-दुःखद व अति-दुर्भाग्यपूर्ण। महिला सुरक्षा व सम्मान के मामले में ऐसी सरकारी उदासीनता व अन्यों की चुप्पी क्यों?


 यूपी की सीएम मायावती ने ये किया है ट्वीट
यूपी की पूर्व सीएम मायावती ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि हरियाणा की महिला आईएएस अफसर रानी नागर को नौकरी के दौरान अपनी जान को खतरा के कारण अन्ततः अपनी नौकरी से ही इस्तीफा देकर वापस अपने घर यूपी लौट आना पड़ा है, जो अति-दुःखद व अति-दुर्भाग्यपूर्ण। महिला सुरक्षा व सम्मान के मामले में ऐसी सरकारी उदासीनता व अन्यों की चुप्पी क्यों?
कांग्रेस पूर्व विधायक ललित नागर बोले-उत्पीड़न से तंग आकर दिया रानी ने इस्तीफा
कांग्रेस के पूर्व विधायक ललित नागर ने कहा कि सरकार ने रानी नागर की शिकायत सुनन की जहमत नहीं उठाई, जिसका नतीजा यह हुआ कि रानी ने इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार एक तरफ तो बेटी पढ़ाओ-बेटी बचाओ का नारा देती है, लेकिन बेटियां सबसे ज्यादा असुरक्षित हैं। रानी नागर की शिकायत के बावजूद जांच तक नहीं की गई। उसे घर तक नहीं दिया गया। गाड़ी नहीं दी गई। आईएएस बेटी असुरक्षित थी। उत्पीड़न में थी, इसी से दुखी होकर उसने इस्तीफा दिया है। ललित नागर ने इस संबंध में मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है और रानी के इस्तीफे को नामंजूर करने की अपील की है।


हरियाणा में मरीजों की संख्या- 557

बुधवार को 4 मरीजों को अस्पताल से मिली छुट्टी, अब तक कुल 260 मरीज ठीक हुए


राज्य में 289 एक्टिव मरीज अभी भी अलग-अलग शहरों के अस्पतालों में भर्ती


राणा ओबरॉय


चंडीगढ़। हरियाणा में कुल मरीजों की संख्या 557 पहुंच गई है। बुधवार को 7 नए मरीज सामने आए हैं। गुड़गांव में 3, पानीपत में 2 और फरीदाबाद और झज्जर में एक-एक संक्रमित मिला। वहीं, बुधवार को गुड़गांव से चार मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिल गई है। राज्य में अब तक कुल 260 मरीज ठीक हो चुके हैं। इस समय 289 एक्टिव मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं।
वहीं गुड़गांव में एक डॉक्टर की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। डॉक्टर ईएसआई अस्पताल में कार्यरत है। वे मूल रूप से फरीदाबाद के रहने वाले हैं, ऐसे में उन्हें फरीदाबाद के मरीजों में जोड़ा जा रहा है। हालांकि वह संक्रमित गुड़गांव में हुए हैं और वह ड्यूटी करने के बाद पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाऊस में रह रहे थे। रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आने पर उन्हें प्राइवेट अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया है। संक्रमित पाए गए डॉक्टर अभी तक 25 अन्य लोगों के संपर्क में आ चुके हैं।
पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आने से गुड़गांव में तीन और संक्रमित मिले
गुड़गांव में तीन संक्रमित मिलने के बाद कुल संक्रमित पेशेंट की संख्या बढ़कर 87 हो गई है। सिविल सर्जन डॉ. जेएस पूनिया ने बताया कि जिन तीन मरीजों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई, उनमें से एक मरीज सेक्टर-18, दूसरा सूरत नगर व तीसरा मरीज इस्लामपुर का रहने वाला है। तीनों कोरोना पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आने से संक्रमित हुए हैं। जिले में बीते पांच दिनों में अब तक 30 कोरोना पॉजिटिव मिल चुके हैं, जिससे स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की चिंता बढ़ गई है।
पिता के बाद बेटा भी संक्रमित
गुड़गांव में संक्रमित मरीजों में एक मरीज गांव इस्लामपुर का रहने वाला है। इसके पिता पहले ही कोरोना संक्रमित हैं। दूसरा मरीज सेक्टर-18 की रहने वाली महिला है और तीसरा मरीज सूरत नगर की रहने वाली महिला है और सूरत नगर स्थित स्वास्थ्य विभाग के अर्बन हेल्थ सेंटर में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है।
हरियाणा में 557 पहुंचा आंकड़ा
हरियाणा में अब तक गुड़गांव में 87,  सोनीपत में 78, फरीदाबाद में 77, झज्जर में 65, नूंह में 59, अम्बाला में 37, पलवल में 36, पानीपत में 30, पंचकूला में 18, जींद में 10, करनाल में 9, यमुनानगर में 8, सिरसा में 6, फतेहाबाद में 5, हिसार, रोहतक में 4-4, भिवानी में 3. कुरुक्षेत्र और कैथल में 2-2, चरखी दादरी में एक पॉजिटिव मिला। इसके अलावा, मेदांता अस्पताल गुड़गांव में 14 इटली के नागरिकों को भी भर्ती करवाया गया था, जिन्हें हरियाणा ने अपनी सूची में जोड़ा है।
प्रदेश में अब कुल 260 मरीज ठीक हो गए हैं। नूंह में 53, गुड़गांव में 51, फरीदाबाद में 43, पलवल 32, पंचकूला में 17, अम्बाला में 11, करनाल और पानीपत में 5-5, सिरसा और सोनीपत में 4-4, यमुनानगर, भिवानी और हिसार में 3-3, कैथल, कुरुक्षेत्र, रोहतक में 2-2, चरखी दादरी, फतेहाबाद 1-1 मरीज ठीक होने पर घर भेजा गया। 14 मरीज इटली के भी ठीक हुए हैं। इनके समेत कुल आंकड़ा 241 हो जाता है।
प्रदेश में अब तक 133 जमाती संक्रमित मिले हैं। इनमें सबसे ज्यादा नूंह जिले से हैं। यहां कुल 42 जमाती संक्रमित पाए गए। इसके अलावा, पलवल 31, फरीदाबाद 23, गुड़गांव 15, अम्बाला 5, पंचकूला 7, यमुनागर 3, भिवानी 2, कैथल, जींद, चरखी दादरी, फतेहाबाद और सोनीपत में एक-एक मरीज संक्रमित मिला। यह सभी मरकज से लौटे थे। जिन्हें अलग-अलग मस्जिदों और गांवों से पकड़ा गया था।


दिल्लीः संक्रमण 5 हजार के करीब

नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। मई की शुरुआत से ही बड़ी संख्या में मामले समाने आ रहे हैं। सोमवार को भी 349 मामले सामने आए। वहीं पिछले चार दिन में 1383 लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। इस वजह से कोरोना के मामले पांच हजार के करीब पहुंच गए हैं।  


दिल्ली के एक आर्मी अस्पताल में 24 लोग कोरोना संक्रमति पाए गए हैं। राजधानी दिल्ली में ITBP के 45 जवान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।  कानून मंत्रालय की बिल्डिंग के कुछ हिस्से को सील कर दिया गया है। मंत्रालय का एक अफसर पिछले दिनों कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। एम्स में ओपीडी सेवा दोबारा शुरू करने के लिए तैयारी शुरू हो गई है। सभी विभाग कोरोना के संक्रमण के बीच इलाज का प्रोटोकॉल तैयार करने में लगे हैं। उम्मीद है कि इस सप्ताह ओपीडी शुरू हो जाएगी।  सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के 13 कर्मियों का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है। एसएसबी के अधिकारियों ने बताया कि 9 संक्रमित कर्मी दिल्ली के घिटोरनी क्षेत्र में तैनात 25वीं बटालियन के हैं, जबकि अन्य 4 संक्रमित अलग-अलग बटालियनों में तैनात हैं। कोरोना संकट के कारण केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) का मुख्यालय सील किए जाने के बाद सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) मुख्यालय के पहले और दूसरे तल को भी सील कर दिया गया। सोमवार को 69 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिली अब तक दिल्ली में 1431 लोग ठीक हो चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार अभी तक कुल 4898 लोग कोरोना से पीडि़त हुए हैं। दिल्ली में अब तक 64 लोगों की मौत हुई है। पिछले दो दिन में मौत का मामला सामने नहीं आया है। मौजूदा समय में 3403 मरीज उपचाराधीन हैं। इसमें से 438 मरीज अपने घर में आइसोलेशन में हैं। 13 कोविड केयर सेंटरों में 832 लोग भर्ती किए गए हैं। 181 मरीज कोविड हेल्थ सेंटर में भर्ती किए गए हैं। इसके अलावा 12 अस्पतालों में 1096 मरीज भर्ती किए गए हैं। 75 लोग आइसीयू में हैं और 11 मरीजों को वेंटिलेटर पर रखा गया है। अब तक 64 हजार लोगों की जांच की गई मौजूदा समय में 90 कंटेनमेंट जोन यानी सील क्षेत्र हैं। सोमवार को कैट्स एंबुलेंस के लिए 144 लोगों की कॉल आई। वहीं हेल्पलाइन नंबर पर 1236 कॉल आए। दिल्ली में कोरोना के मामले अचानक अधिक बढ़ने के साथ ही स्वास्थ्य विभाग यह मान चुका है कि यहां संक्रमण लंबे समय तक बरकरार रहेगा। कम्युनिटी मेडिसिन के विशेषज्ञ तो यह भी कहने लगे हैं कि दिल्ली में अब समुदाय में संक्रमण शुरू हो चुका है। केंद्र के निर्देश पर दिल्ली की मौजूदा हालत की पड़ताल में जुटी एम्स व राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) की टीम के सदस्य भी कहते हैं कि जिस तरह के साक्ष्य सामने आ रहे हैं । उससे स्पष्ट है कि दक्षिणी पूर्वी दिल्ली, मध्य दिल्ली व उत्तर पूर्वी दिल्ली में समुदाय में संक्रमण फैल चुका है।


महाराष्ट्र में रोजाना बढ़ रहा 'सिरदर्द'

महाराष्ट्र में लगातार बढ़ रहा सिरदर्द


मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। आलम यह है कि बीते 24 घंटे में 841 नए मामले सामने आए हैं। वहीं राज्य में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के कारण 34 लोगों की मौत हुई है। मुंबई में पिछले 24 घंटे में Covid-19 के 635 नए मामले सामने आए हैं जबकि 24 घंटे में 26 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 15525 हो गई है, वहीं राज्य में कोरोना से अब तक 617 लोगों की मौत हुई है।


महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) के स्टोरेज टैंक से गैस रिसाव होने के बाद पास की बर्ड सेंक्चुअरी में करीब 30 बंदरों और 14 कबूतरों की मौत हो गई। अधिकारियों ने रविवार को बताया कि पनवेल तालुका के पोसरी में गुरुवार रात बीपीसीएल यूनिट के टैंक से गैस रिसाव हुआ जिससे करीब 10 किलोमीटर दूर स्थित कर्नाला पक्षी अभयारण्य में जहरीली गैस के कारण पशु-पक्षियों ने दम तोड़ा। इस घटना के संबंध में बीपीसीएल से जुड़े सात लोगों सहित आठ लोगों और जेसीबी मशीन के चालक को हिरासत में लिया गया है।


 


39 करोड लोगों को 34800 करोड

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से निपटने के लिए लागू किये गये लॉकडाउन के मद्देनजर शुरू की गयी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 39 करोड़ लोगों को 34800 करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता दी गयी है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गत 26 मार्च को इस योजना की घोषणा की थी और तब से पांच मई तक यह राशि डिजिटल भुगतान के माध्यम से वितरित की गई। 
इस योजना के अतिरिक्त सरकार ने मु़फ्त में अनाज देने की घोषणा की थी। इसके साथ ही महिलाओं, किसानों और गरीब वरिष्ठ नागरिकों को नकद राशि भी सीधे बैंक खातों में दी गयी है। इस योजना के तहत पी एम किसान के 8.19 करोड़ लाभार्थियों को 16394 करोड़ रुपये की पहली किश्त दी गयी है। 20.05 करोड़ महिला जनधन खाताधारकों को 10025 करोड़ रुपये हस्तातंरित किये गये हैं।


गत पांच मई तक 5.57 करोड़ महिला जनधन खाताधारकों को 2785 करोड़ रुपये की राशि हस्तातंरित की गयी। इस योजना के तहत 2.82 करोड़ वृद्धों , विधवाओं और दिव्यांगों को 1405 करोड़ रुपये हस्तातंरित किये गये हैं। भवन निर्माण से जुड़े 2.20 करोड़ श्रमिकों को 3492.57 करोड़ रुपये की वित्तीय सहायता दी गयी है। इस योजना के तहत प्रधानमंत्री उज्जवाला योजना के 5.09 करोड़ रसोई गैस सिलेंडर बुक किये गये हैं जिसमें से 4.82 करोड़ सिलेंडर डिलीवर किये जा चुके हैं।


लॉक डाउन-3 के बाद क्या करेगी सरकार

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है कि तीसरे चरण का लॉकडाउन समाप्त होने के बाद सरकार इस मसले पर क्या रणनीति अपना रही है इसका उसे खुलासा करना चाहिए। सोनिया गांधी ने कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ कोराना वायरस ‘कोविड-19′ और लॉकडाउन के बाद की स्थिति पर विचार विमर्श करते हुए बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार को बताना चाहिए कि 17 मई के बाद क्या स्थिति होगी।


उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार लॉकडाउन को मापने के लिए क्या मापदंड अपना रही है और वह इस बारे में 17 मई के बाद क्या और कैसी नीति अपना रही है। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोनिया गांधी का समर्थन किया और कहा कि अब यह जानने की आवश्यकता है कि तीसरे चरण का लॉकडाउन खत्म होने के बाद क्या होगा।


 


4 राज्य में संक्रमण 30 हजार के पार

नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) का प्रकोप देशभर में तेजी से बढ़ रहा है जिसके कारण महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली और तमिलनाडु में कुल 30932 लोग संक्रमित हुए हैं जो देश के सभी मामलों का 60 प्रतिशत से अधिक है। इसके अलावा मध्य प्रदेश और राजस्थान में कोरोना के मामले तीन हजार के आंकड़ें को पार कर गए हैं।केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से बुधवार सुबह जारी किए गए ताजा आंकड़ों के अनुसार देश भर में कोरोना संक्रमितों की संख्या 49391 तक पहुंच गयी है जबकि इस महामारी के कारण मरने वालों का आंकड़ा 1694 हो गया है। अब तक 14183 लोगों को स्वस्थ होने के बाद विभिन्न अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है।


दिग्विजय पर मामला दर्ज करने की मांग

नई दिल्ली। सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) दिल्ली ने महाराष्ट्र के नांदेड़ में फंसे सिख श्रद्धालुओं की तुलना तब्लीगी जमात से करने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ दिल्ली पुलिस में शिकायत करके मामला दर्ज करने की मांग की है।


मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने ट्वीट कर नांदेड में फंसे सिख श्रद्धालुओं की तुलना तब्लीगी जमात से की थी। सिख समुदाय ने इस पर कड़ी आपत्ति जताई है। ऐसी रिपोर्ट हैं कि नांदेड से सिख श्रद्धालुओं को पंजाब लाने पर इनमें बड़ी संख्या में कोरोना वायरस पाॅजिटिव पाये गए हैं। इसके बाद पंजाब में वायरस संक्रमितों की संख्या में इजाफा हुआ था। कमेटी के दिल्ली अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने दिग्विजय सिंह के बयान पर कड़ी आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा यह भावनाएं भड़काने की ओछी राजनीति है। उन्होंने कहा की नांदेड़ से महाराष्ट्र सरकार ने सिख श्रद्धालुओं को भेजा था यह कोई वहां से भागे नहीं हैं लेकिन कांग्रेस नेता ने सिख समाज की गलत छवि पेश की है। दिग्विजय ने कहा की कमेटी ने पुलिस में शिकायत देकर कांग्रेस नेता पर मामला दर्ज करने की मांग की है।


दिल्ली के टिकरी कलां में जबरदस्त आग

नई दिल्ली। देश की राष्ट्रीय राजधानी में एक बड़ी खबर सामने आई है। यहां के टिकरी कलां इलाका स्थित पीवीसी मार्केट में आग लग गई है। इससे मौके पर अफरातफरी मच गई है। मौके पर दमकल की 36 गाड़ियों को आग पर काबू करने के लिए लगाया गया है। अभी तक किसी भी तरह के जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। कहा जा रहा है कि रात तकरीबन 2:30 बजे के आसपास मार्केट में आग लगी। इसके बावजूद अभी तक आग पर काबू नहीं पाया जा सका है। यदि दिल्ली में पिछले 6 महीने की घटनाओं पर नजर डालें तो यहां अग्निकांड के सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं। सबसे बड़ा और भयानक अग्निकांड मामला बीते 8 दिसंबर को सामने आया था, तब रानी झांसी रोड स्थित अनाज मंडी में भीषण आग लग गई थी। दिल्‍ली पुलिस ने इस भीषण अग्निकांड में 43 लोगों के मरने की पुष्टि की थी। वहीं, राहत एवं बचाव दल के सदस्‍यों ने 50 से ज्‍यादा लोगों को बचाने की बात कही थी। जानकारी के मुताबिक, आग लगने की यह घटना गत्‍ते की एक फैक्‍ट्री में हुई थी।


 


तेलंगना में 29 मई तक बढ़ा लॉक डाउन

नई दिल्ली। वैश्विक महामारी ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है। कामधंधे ठप्प होने से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उधर, तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव ने राज्य में लॉकडाउन की मियाद को 29 मई तक बढ़ाने के आदेश जारी कर दिए हैं। देश भर में फिलहाल 17 मई तक लॉकडाउन का आदेश दिया गया है। तेलंगाना ऐसा पहला राज्य है, जिसने अपने प्रदेश में लॉकडाउन की मियाद बढ़ाई है। सीएम ने कहा है कि प्रदेश में शाम 7 बजे से कर्फ्यू लगाया जाएगा, इसलिए लोगों से अनुरोध है कि वह 6 बजे तक जरूरी सामान आदि लेकर अपने घर लौट आएं। तेलंगाना में हुए फैसले ने इस बात की चर्चा तेज कर दी है कि केंद्र सरकार आने वाले वक्त में खुद भी लॉकडाउन की मियाद को आगे बढ़ा सकती है। तेलंगाना की केसीआर सरकार ने इस संबंध में एक डिटेल्ड गाइडलाइन जारी करते हुए लॉकडाउन की शर्तों का जिक्र किया है। सरकार ने कहा है कि जो भी लोग जरूरी सामान की खरीद के लिए जाना चाहते हैं, वह 6 बजे तक अपने घरों में वापस लौट आएं। इसके अलावा सीएम ने यह भी कहा है कि प्रदेश में अगर कोई भी लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए पाया जाता है तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। तेलंगाना देश का पहला ऐसा राज्य था, जिसने कि जनता कर्फ्यू के बाद अपने राज्य में कर्फ्यू लगाने का आदेश जारी किया था। इसके अलावा शुरुआती तौर पर सीएम ने पुलिस को कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों पर पूरी सख्ती की छूट भी दी थी।


 


दिल्ली का संक्रमण नियंत्रण से बाहर

नई दिल्ली। दिल्ली में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। मई की शुरुआत से ही बड़ी संख्या में मामले समाने आ रहे हैं। सोमवार को भी 349 मामले सामने आए। वहीं पिछले चार दिन में 1383 लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। इस वजह से कोरोना के मामले पांच हजार के करीब पहुंच गए हैं।  


दिल्ली के एक आर्मी अस्पताल में 24 लोग कोरोना संक्रमति पाए गए हैं। राजधानी दिल्ली में ITBP के 45 जवान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।  कानून मंत्रालय की बिल्डिंग के कुछ हिस्से को सील कर दिया गया है। मंत्रालय का एक अफसर पिछले दिनों कोरोना पॉजिटिव पाया गया था। एम्स में ओपीडी सेवा दोबारा शुरू करने के लिए तैयारी शुरू हो गई है। सभी विभाग कोरोना के संक्रमण के बीच इलाज का प्रोटोकॉल तैयार करने में लगे हैं। उम्मीद है कि इस सप्ताह ओपीडी शुरू हो जाएगी।  सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) के 13 कर्मियों का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है। एसएसबी के अधिकारियों ने बताया कि 9 संक्रमित कर्मी दिल्ली के घिटोरनी क्षेत्र में तैनात 25वीं बटालियन के हैं, जबकि अन्य 4 संक्रमित अलग-अलग बटालियनों में तैनात हैं। कोरोना संकट के कारण केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) का मुख्यालय सील किए जाने के बाद सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) मुख्यालय के पहले और दूसरे तल को भी सील कर दिया गया। सोमवार को 69 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिली अब तक दिल्ली में 1431 लोग ठीक हो चुके हैं। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार अभी तक कुल 4898 लोग कोरोना से पीडि़त हुए हैं। दिल्ली में अब तक 64 लोगों की मौत हुई है। पिछले दो दिन में मौत का मामला सामने नहीं आया है। मौजूदा समय में 3403 मरीज उपचाराधीन हैं। इसमें से 438 मरीज अपने घर में आइसोलेशन में हैं। 13 कोविड केयर सेंटरों में 832 लोग भर्ती किए गए हैं। 181 मरीज कोविड हेल्थ सेंटर में भर्ती किए गए हैं। इसके अलावा 12 अस्पतालों में 1096 मरीज भर्ती किए गए हैं। 75 लोग आइसीयू में हैं और 11 मरीजों को वेंटिलेटर पर रखा गया है। अब तक 64 हजार लोगों की जांच की गई मौजूदा समय में 90 कंटेनमेंट जोन यानी सील क्षेत्र हैं। सोमवार को कैट्स एंबुलेंस के लिए 144 लोगों की कॉल आई। वहीं हेल्पलाइन नंबर पर 1236 कॉल आए।
दिल्ली में कोरोना के मामले अचानक अधिक बढ़ने के साथ ही स्वास्थ्य विभाग यह मान चुका है कि यहां संक्रमण लंबे समय तक बरकरार रहेगा। कम्युनिटी मेडिसिन के विशेषज्ञ तो यह भी कहने लगे हैं कि दिल्ली में अब समुदाय में संक्रमण शुरू हो चुका है। केंद्र के निर्देश पर दिल्ली की मौजूदा हालत की पड़ताल में जुटी एम्स व राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) की टीम के सदस्य भी कहते हैं कि जिस तरह के साक्ष्य सामने आ रहे हैं । उससे स्पष्ट है कि दक्षिणी पूर्वी दिल्ली, मध्य दिल्ली व उत्तर पूर्वी दिल्ली में समुदाय में संक्रमण फैल चुका है।


संकट में राष्ट्रीय सोच का एकीकरण ?

संकट के समय राज्यों की सोच राष्ट्रीय नहीं बल्कि प्रादेशिक


नई दिल्ली। कोरोना जैसे राष्ट्रीय संकट को लेकर भी राज्यों की सोच राष्ट्रीय नहीं बल्कि प्रादेशिक ही है। हालांकि यह बात खुलकर सामने आ गई है और केंद्र से लेकर राज्यों तक ने इसे स्वीकार कर लिया है कि कोरोना से जंग लंबी है और हमें इसके साथ जीना सीखना चाहिए। लेकिन वह केवल अपनी सीमाओं को सुरक्षित रखने में जुटे हैं। हरियाणा सरकार की ओर से एक बयान आया कि उनके यहां पाए गए अधिकतर संक्रमित दिल्ली से आए थे। लिहाजा सीमा सील कर दी है। लेकिन दिल्ली क्या करे, जहां पूरे देश से लोग आते हैं।


शराब बिक्री के जरिए राजस्व उगाहने में शारीरिक दूरी (सोशल डिस्टेंसिंग) का मापदंड टूटता है तो सेस बढ़ाया जाता है। लेकिन राज्यों के बीच आपसी समन्वय बढ़ाकर सीमाओं पर मुस्तैदी और सुरक्षा के लिए चाक चौबंद होने पर अब तक बात नहीं हो रही है। राज्यों के बीच समन्वय और संवाद की यह कमी हर किसी को परेशान कर सकती है।


आर्थिक सुधार की मंशा भी असफल

आर्थिक गतिविधि को धीरे-धीरे शुरू करने की मंशा भी हो रही ध्वस्त 


नई दिल्ली। दिल्ली में कार्यालय खुल गए हैं लेकिन नोएडा, फरीदाबाद, गाजियाबाद से दिल्ली आने जाने को रोका जा रहा है। दिल्ली से इन क्षेत्रों मे जाने वाले ट्रक भी रोके जा रहे हैं। ऐसे में लाखों लोगों के रोजगार पर तो सवाल खड़ा होगा ही लॉकडाउन के बाद आर्थिक गतिविधि को धीरे-धीरे शुरू करने की मंशा भी ध्वस्त हो रही है। केंद्रीय गृहमंत्रालय के अधिकारी का कहना है कि उनकी ओर से गाइडलाइन है और उसमें इस तरह की रोक का प्रावधान नहीं है। यह स्थानीय प्रशासन और संबंधित राज्यों को बातचीत से दूर करना चाहिए। ध्यान रहे कि दिल्ली मे आम आदमी पार्टी की सरकार है और हरियाणा तथा उत्तर प्रदेश में भाजपा की। केंद्र में भी भाजपा की सरकार है। अगर किसी के स्तर पर शुरूआत हो तो संवाद बढ़ाया जा सकता है।


गतिविधियों में छूट, काम पर लगाई रोक

दिल्‍ली में गतिविधियां शुरू, एनसीआर में काम पर लगाई जा रही रोक 


नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर का पूरा क्षेत्र भले ही चार राज्यों मे बंटा हुआ है लेकिन व्यावहारिक रूप से यह एक इकाई है राजनीतिक और आर्थिक रूप से बहुत अहम है। यह एक ऐसा क्षेत्र है जो लाखों करोड़ रुपये का उत्पादन करता है। आटो पार्टस, एपरेल, आइटी जैसे क्षेत्र में तो यह गढ़ है। लाखों लोग रोजाना रोजगार के लिए एक राज्य से दूसरे राज्य जाते हैं। पूरा दिल्ली एनसीआर रेड जोन है। लेकिन लाकडाउन 3 में रेड जोन के अंदर भी कंटेनमेंट एरिया को छोड़कर बाकी के क्षेत्रों मे परिवहन समेत उत्पादन व अन्य गतिविधियों को छूट दी गई है। इस छूट के बाद दिल्ली में तो गतिविधियां बढ़ती दिख रही हैं, लेकिन एनसीआर के बाकी क्षेत्र कटे हुए हैं। इन क्षेत्रों से दिल्ली आने जाने वालों पर लगातार रोक लगाई जा रही है। यहां तक कि आवश्यक सेवाओं को भी रोका जा रहा है। जाहिर है कि ऐसी स्थिति में लाखों लोगों के रोजगार पर भी संकट खड़ा हो सकता है।


लॉक डाउन के उद्देश्य पर पानी फिरेगा

नई दिल्ली। हर राज्य सत्ताधारी दल की राजनीतिक सोच के अनुसार नीतियों के आधार पर बंटे होते हैं। संकट यह है कि कोरोना महामारी भी इसे पाटने में बहुत सफल नहीं है। प्रवासी श्रमिकों को किसी भी तरह मूल राज्य में भेजने की तत्परता पहले दिखी, फिर उनसे रेल किराया भाड़ा वसूलने को लेकर विवाद उठा। समन्वय की यह कमी राज्यों की सीमाओं में प्रवेश को लेकर भी है। खासकर दिल्ली-एनसीआर में जिस तरह अलग- अलग राज्यों का रुख दिख रहा है वह लॉकडाउन में राहत की पूरी मंशा पर ही पानी फेरता दिख रहा है। यह इसलिए गंभीर है क्योंकि दिल्ली-एनसीआर जिसमें दिल्ली समेत नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम, फरीदाबाद शामिल है, एक बहुत बड़े आर्थिक गतिविधि का केंद्र है। जहां सालाना लाखों करोड़ का न सिर्फ उत्पादन होता है बल्कि लाखों लोगों को रोजगार मुहैया कराता है।


कार्यालय में रक्तदान शिविर का आयोजन

विदिशा में संघ कार्यालय में रक्तदान करते हुए स्वयंसेवक।


विदिशा। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ शरद स्मृति न्यास एवं सेवा भारती द्वारा मधुकर अरिहंत विहार स्थित संघ कार्यालय में रक्तदान शिविर का आयोजन किया। जिला प्रचार प्रमुख लाखन सिंह जाट ने बताया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ द्वारा भारत में जगह जगह पर विभिन्ना प्रकार के सेवा कार्य किए जा रहे हैं। इसी के तहत 24 स्वयं सेवकों द्वारा 24 यूनिट रक्तदान किया गया। रक्तदान से पहले मुख्य द्वार पर सभी रक्तदानियों को सैनिटाइज किया गया। कार्यालय में ब्लड बैंक की टीम का शॉल एवं श्रीफल द्वारा सम्मान किया गया। इसके बाद रक्तदान प्रारंभ किया, जिसमें कार्यालय निवासरत प्रांतीय अधिकारी ओम प्रकाश सिसोदिया, विभाग प्रचारक कैलाश लववंशी, जिला प्रचारक दिनेश शर्मा, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के संगठन मंत्री विपिन, दिनेश सुमन, प्रेम सिंह धाकड़, नरोत्तम सोनी द्वारा रक्तदान किया गया। कार्यक्रम में महेंद्र सिंह रघुवंशी, गोवर्धन सिंह चौहान, विक्रम रघुवंशी, गोपाल खत्री, अशोक गर्ग इत्यादि उपस्थित रहे। जिला प्रचार प्रमुख लाखन सिंह जाट ने बताया कि स्वयंसेवकों द्वारा भोजन वितरण, मास्क वितरण आदि सेवाकार्य भी किए गए।


यूपीः वायरस संक्रमितों की संख्या-2935

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 2935 तक पहुंच गई है। बुधवार को एक और कोरोना पॉजिटिव की मौत हो गई है। मेरठ में मेडिकल कालेज के कोव‍िड वार्ड में भर्ती संक्रमित की मौत के साथ यह वायरस अब तक राज्य में 61 लोगों की जान ले चुका है।


कोरोना की मार से सर्वाधिक बेहाल आगरा है। वहां बुधवार को कोरोना वायरस के 13 नए केस मिले हैं। आगरा में अब तक 650 संक्रमित लोग मिल चुके हैं। हालांकि इस बीच राहत देने वाली बात यह है कि राज्य में अब तक कुल 987 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। ये कुल मरीजों का 34.2 प्रतिशत है, जो कि राष्ट्रीय औसत से 7.2 फीसद ज्यादा है। राष्ट्रीय स्तर पर कुल मरीजों में से 27 प्रतिशत स्वस्थ हुए हैं। बुधवार को राजधानी लखनऊ के किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में 1159 सैंपलों की जांच की गई, जिसमें 11 सैंपल कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें लखनऊ के छह, वाराणसी के चार और एक औरैया के कोरोना संक्रमित शामिल हैं। यूपी के कुशीनगर में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ रही है। सोमवार को हाटा के बेलवनिया में पहला केस मिलने के बाद बुधवार को पटहेरवा क्षेत्र में भी एक 24 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है। सुबह युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पूरा प्रशासन हरकत में आ गया है। गांव को सील कर दिया गया है। युवक कोलकाता से 29 अप्रैल की शाम ट्रक से अपने घर पहुंचा था।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


मई 07, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-270 (साल-01)
2. बृहस्पतिवार, मई 07, 2020
3. शक-1943, वैशाख, शुक्ल-पक्ष, तिथि- चतुर्दशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:50,सूर्यास्त 07:02।


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-35+ डी.सै., तेज हवाएं चलने की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...