बुधवार, 27 दिसंबर 2023

2 आतंकियों को 7 साल कैद की सजा सुनाई

2 आतंकियों को 7 साल कैद की सजा सुनाई 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। एनआईए की स्पेशल कोर्ट ने आज इंडियन सब-कॉन्टिनेंट अल-कायदा (AQIS) के 2 आतंकियों को दोषी ठहराते हुए 7 साल कैद की सजा सुनाई। NIA अदालत ने असम के अख्तर हुसैन लश्कर उर्फ मोहम्मद हुसैन पर 41 हजार और पश्चिम बंगाल के अब्दुल अलीम मंडल उर्फ मोहम्मद जुबा पर 51 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। 
NIA ने 30 अगस्त 2022 को IPC की धारा 153ए, 153बी, 120बी, 121, 121ए, 114 और 511 और UAPA अधिनियम की धारा 10, 13, 15, 16, 18 और 20 के तहत मामला दर्ज किया था।
अल-कायदा के 2 आतंकियों के खिलाफ एक्शन प्रतिबंधित संगठन अलकायदा के ‘हैंडलर्स’ की पहचान करने और उनके खिलाफ मुकदमा चलाने के एनआईए की एक बड़ी सफलता है। एनआईए की जांच के अनुसार दोनों दोषियों को AQIS के विदेशों में बैठे हैंडलर्स ने कट्टरपंथी बनाया था और अपनी टीम में भर्ती किया था और वे सक्रिय रूप से AQIS की गतिविधियों को आगे बढ़ाने में लगे हुए थे। AQIS द्वारा भर्ती के बाद ये लोग विभिन्न टेलीग्राम समूहों में शामिल हो गए।
NIA की जांच से यह भी पता चला है कि इन लोगों ने हिजरा को अफगानिस्तान के खुरासान प्रांत में ले जाने की साजिश रची थी, जहां उनका ट्रेनिंग लेने का इरादा था। इसके अलावा दोनों ने आतंक और हिंसा के माध्यम से भारत विरोधी एजेंडे को बढ़ावा देने के लिए AQIS की साजिश के तहत खुरासान में ट्रेनिंग लेने के बाद भारत में एक विशेष समुदाय के सदस्यों के खिलाफ जिहाद करने की योजना बनाई थी। वे अफगानिस्तान के खुरासान में अन्य युवाओं को कट्टरपंथी बनाने और एक्यूआईएस में भर्ती करने की प्रक्रिया में भी थे।

ज्ञापन: अधिशासी अधिकारी पर आरोप लगाया

ज्ञापन: अधिशासी अधिकारी पर आरोप लगाया 

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। बुधवार को जलालाबाद नगर पंचायत के अध्यक्ष व सदस्यों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर अधिशासी अधिकारी पर विकास कार्यों अनियमितताएं, दुर्व्यवहार और निकाय की छवि धूमिल करने का आरोप लगाया। उन्होने डीएम ने मामले में जांच कराकर कार्यवाही करने की मांग की है।

बुधवार को नगर पंचायत जलालाबाद के चेयरमैन जहीर मलिक व सदस्यों ने कलक्ट्रेट पहुंचकर डीएम रविन्द्र सिंह से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा। उन्होने बताया कि ईओ जितेंद्र राणा हटधर्मिता करते हुए विकास कार्य नहीं होने दे रहे है। पिछले दिनों ईओ ने नियम विरूद्ध जाते हुए अपने सहारनपुर स्थित अपने आवास पर निकाय के सफाईकर्मियों को सफाई करने के लिए बुलाया था। इसमें लौते समय हुए हादसे में एक सफाईकर्मीकी मौत हो गई व कई घायल हो गए।

आरोप लगाया कि ईओ लगातार निकाय में भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे है। अनेकों अनियमितताओं के आरोप व प्रकरणों की गंभीरता को देखते हुए नगर पंचायत बोर्ड ने अपने प्रस्ताव संख्या-7 तिथि 26 दिसंबर को ईओ को नगरीय निकाय अधिनियम-1916 की धारा-58 के तहत एक पक्षीय रूप से कार्यमुक्त कर दिया।

गत दिवस कलक्ट्रेट पहुंचकर पूरे प्रकरण के मामले में एडीएम को अवगत कराया था। उन्होने प्रकरण में कार्रवाई करते हुए ईओ के स्थान पर किसी अन्य अधिकारी को चार्ज देने की मांग की गई।

इस अवसर पर सभासद प्रमिला सैनी, राशिद अहमद, धर्मवीर सैनी, राकेश शर्मा, रीना कौरी, इशाक सैफी, विजय कुमार, गुलाम मोहम्मद, पूनम देवी, संजय सैनी, अशफा, जावेद, इमराना, इकबाल, शमीमा आदि मौजूद रहे।

शीतकाल के लिए चारधाम यात्रा की शुरुआत

शीतकाल के लिए चारधाम यात्रा की शुरुआत 

पंकज कपूर 
देहरादून। उत्तराखंड के चार धामों के लिए बुधवार से शीतकाल के लिए चारधाम यात्रा की शुरुआत हो गई है। ज्योतिषपीठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने इसकी शुरुआत की। इस दौरान उत्तरकाशी के बड़कोट नगर क्षेत्र में उनका स्वागत किया जाएगा।

आज से शुरू हुई शीतकाल के लिए चारधाम यात्रा

जानकारी के अनुसार ज्याेतिर्मठ के मीडिया प्रभारी डाॅ. बृजेश सती ने जानकारी देते हुए बताया कि जगतगुरु शंकराचार्य की चारधाम की यात्रा 27 दिसंबर से शुरू होगी। इस दौरान मां यमुना की शीतकालीन पूजा स्थल खरसाली पहुंचेंगे। इसके साथ ही शाम की पूजा और आरती में शामिल होंगे।

तीन जनवरी को होगा यात्रा का समापन

मीडिया प्रभारी डाॅ. बृजेश सती ने कहा कि शंकराचार्य द्वारा 2500 वर्ष पुराणी स्थापित परंपराओं का निर्वहन करते हुए ज्योतिषपीठ के शंकराचार्य शीतकालीन पूजास्थलों की तीर्थयात्रा कर रहे हैं। यात्रा की शुरुआत 27 जनवरी से की की जाएगी। जबकि यात्रा का समापन तीन जनवरी 2024 को हरिद्वार में होगा।

शीतकालीन यात्रा को मिलेगा बढ़ावा

बता दें आदिगुरु शंकराचार्य परंपरा के इतिहास में यह पहला अवसर है। जब ज्योतिषपीठ के आचार्य चारधामों के पूजा स्थलों की तीर्थ यात्रा कर रहे हैं। सूबे की मुखिया पुष्कर सिंह धामी ने भी शंकराचार्य की यात्रा को ऐतिहासिक बताते हुए कहा था कि उनकी तीर्थ यात्रा से चारधामों में शीतकालीन यात्रा को बढ़ावा मिलेगा।

छह महीने के लिए यहां विराजमान होते हैं भगवान

बता दें कि हिंदू मान्यता के अनुसार उत्तराखंड के चार धामों में शीतकाल के छह महीने देवता पूजा पाठ करते हैं। इसलिए बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री चारों धामों के कपाट छह महीने के लिए बंद हो जाते हैं। इस दौरान उनके गद्दीस्थलों पर पूजा की जाती है।

रूद्रप्रयाग जिले के ऊखीमठ में बाबा केदार और पांडुकेश्वर जोशीमठ चमोली जिले में भगवान बद्रीनाथ आ जाते हैं। छह महीने यहीं इनकी पूजा अर्चना होती है। शीतकाल में श्रद्धालु इन्हीं जगहों पर भगवान के दर्शन करते हैं। चारों धामों से चल विग्रह स्वरुप को शीतकाल प्रवास मां गंगा उत्तरकाशी जिले के मुखवा गांव और यमुना मां खरसाली गांव में प्रवास करती है।

शीतकाल में गद्दी की होती है पूजा

बता दें कि शीतकाल में छह महीनों के लिए तीर्थ पुरोहित शीतकाल गद्दी की पूजा अर्चना करते हैं। शीतकाल प्रवास के लिए चारों धामों से जो डोली ले जाई जाती है उसमें चल विग्रह स्वरूप होता है। जिसका मतलब ये है कि भगवान की मुख्य मूर्ति मंदिर परिसर में ही होती है। लेकिन धामों के कपाट होने के साथ ही भगवान की मूर्ति चल विग्रह स्वरूप में शीतकाल के लिए लाई जाती है।

जयंत का 45वां जन्मदिन धूमधाम से मनाया

जयंत का 45वां जन्मदिन धूमधाम से मनाया 

करारी में धूमधाम से मनाया गया जयंत सिंह का जन्मदिन

कौशाम्बी। राष्ट्रीय लोकदल के पार्टी कार्यालय करारी कस्बे में प्रदेश महासचिव इमरान हैदर रिज़वी ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद जयंत सिंह का 45वां जन्मदिन बड़े धूमधाम से मनाया है। 
इस मौके पर उन्होंने जयंत सिंह के स्वास्थ्य एवं दीर्घायु की कामना की है और मिठाइयों का वितरण किया है। जयंत सिंह के जन्म दिवस के अवसर पर पार्टी की नीतियों को बताते हुए उन्होंने पार्टी से जुड़ने की लोगों को अपील की है।
राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं राज्यसभा सांसद जयंत सिंह के 45 वे जन्मदिन पर करारी स्थिति राष्ट्रीय लोकदल कार्यालय में पार्टी के तमाम लोग एकत्रित हुए और बड़े धूमधाम से उनका जन्मदिन मनाया तथा पार्टी कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे को लड्डू खिलाकर खुशी का इजहार किया इस मौके पर पार्टी के प्रदेश महासचिव इमरान हैदर रिजवी तथा जिला अध्यक्ष नजमुल हसन सहित तमाम लोग मौजूद रहे, तथा और तमाम पार्टी कार्यकर्ताओ ने भी राष्ट्रीय अध्यक्ष को बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं दी उक्त जानकारी इमरान हैदर रिजवी प्रदेश महासचिव राष्ट्रीय लोकदल, कौशांबी ने दी है।
मदन कुमार केसरवानी

‘भारत न्याय यात्रा’ आयोजित करेगी कांग्रेस

‘भारत न्याय यात्रा’ आयोजित करेगी कांग्रेस 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। कांग्रेस 14 जनवरी से 20 मार्च तक ‘भारत न्याय यात्रा’ आयोजित करेगी। यह यात्रा मणिपुर से शुरू होकर मुंबई तक जाएगी और इस दौरान 14 राज्यों और 85 जिलों में छह हजार किलोमीटर से अधिक की दूरी तय की जाएगी। कांग्रेस महासचिव (संगठन) के.सी. वेणुगोपाल ने बुधवार को यह जानकारी दी।
उन्होंने बताया,‘‘ कांग्रेस कार्य समिति में यह राय बनी कि पार्टी नेता राहुल गांधी को पूर्व से पश्चिम तक यात्रा करनी चाहिए....अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) ने मणिपुर से मुंबई तक 14 जनवरी से 20 मार्च तक ‘भारत न्याय यात्रा’ आयोजित करने का निर्णय किया है।’’ वेणुगोपाल ने कहा, ‘‘ राहुल गांधी ने कन्याकुमारी से कश्मीर तक 4,500 किलोमीटर की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ की थी। यह भारतीय राजनीति के इतिहास में ऐतिहासिक यात्रा थी।
वह ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के अपने अनुभव से इस यात्रा की शुरुआत करेंगे। इस यात्रा में देश की महिलाओं, युवाओं और वंचित समुदाय के लोगों से बातचीत की जाएगी।’’ वेणुगोपाल ने कहा कि यात्रा में 6,200 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी और महाराष्ट्र पहुंचने से पहले यह मणिपुर, नागालैंड, असम, मेघालय, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, ओडिशा, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात से होकर गुजरेगी। उन्होंने कहा,‘‘ यह यात्रा 14 राज्यों और 85 जिलों से गुजरेगी। ‘भारत न्याय यात्रा’ ज्यादातर बस से होगी लेकिन कहीं-कहीं पदयात्रा भी होगी।

घना कोहरा छाया, हवाई एवं रेल सेवाएं प्रभावित

घना कोहरा छाया, हवाई एवं रेल सेवाएं प्रभावित 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में बुधवार सुबह घना कोहरा छाया रहा और कई इलाकों में दृश्यता कम रही, जिससे हवाई एवं रेल सेवाएं प्रभावित हुई। सुबह के वक्त न्यूनतम तापमान सामान्य से एक डिग्री अधिक 7.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। राष्ट्रीय राजधानी में दृश्यता करीब 50 मीटर रहने के बीच मौसम विभाग ने सुबह आठ बजे ‘ऑरेंज’ अलर्ट जारी किया।
एक अधिकारी ने बताया कि कोहरे के कारण रेलगाड़ियां अपने निर्धारित वक्त से देरी से चल रही हैं और उड़ानों के परिचालन में भी विलंब हो सकता है या उड़ानें रद्द हो सकती हैं। इस बीच एक अधिकारी ने बताया कि खराब मौसम के कारण दिल्ली हवाईअड्डे पर दो उड़ानों के मार्ग परिवर्तित किए गए। अधिकारी ने बताया कि सुबह नौ बजे और सवा नौ बजे के बीच उड़ानों को जयपुर की ओर मोड़ा गया।
आईएमडी के अनुसार ‘येलो’ अलर्ट अधिकारियों को सचेत रहने ‘ऑरेंज’ अलर्ट उन्हें तैयार रहने वहीं ‘रेड’ अलर्ट अधिकतम सतर्कता बरतने और कार्रवाई के निर्देश देता है। उपग्रह से प्राप्त सुबह 5.15 बजे की तस्वीरों से पता चलता है कि राष्ट्रीय राजधानी में घने से बेहद घने कोहरे की स्थिति रही। दिल्ली के मुख्य मौसम केंद्र सफदरजंग में सुबह साढ़े पांच बजे दृश्यता 50 मीटर दर्ज की गई, वहीं पालम में यह 125 मीटर रही।
कोहरे के कारण दिल्ली के रेलवे स्टेशनों पर आने वाली लगभग 25 रेलगाड़ियां देरी से चल रही है। मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के अनुसार पूर्वाह्न 11बजे स्थिति में सुधार हो सकता है। स्काईमेट के अधिकारी महेश पलावत ने ‘एक्स’ पर अपने पोस्ट में कहा, ‘‘दिल्ली-एनसीआर में बेहद घना कोहरा।
कई जगहों पर दृश्यता लगभग शून्य है। सुबह 7:30 बजे पालम में दृश्यता 50 मीटर दर्ज की गई। सावधानी बरतें और सावधानी से वाहन चलाएं। पूर्वाह्न 11 बजे के बाद सुधार की उम्मीद है।’’ उन्होंने एक अन्य पोस्ट में कहा, ‘‘ उड़ानों में देरी हो सकती है या इन्हें रद्द भी किया जा सकता है।
घने कोहरे का असर आज पंजाब,हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में रेल, सड़क, हवाई यातायात पर पड़ सकता है।’’ वायु गुणवत्ता सूचकांक 383 रहा जो ‘बहुत खराब’ की श्रेणी आता है।

इंजीनियर हमारे देश के विकास की रीढ़ हैं: शुक्ल

इंजीनियर हमारे देश के विकास की रीढ़ हैं: शुक्ल

मनोज सिंह ठाकुर 
जबलपुर। मध्यप्रदेश के उप मुख्यमंत्री राजेंद्र शुक्ल ने कहा है कि इंजीनियर हमारे देश के विकास की रीढ़ हैं। शुक्ल ने आज यहाँ इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स (इंडिया) के लोकल सेंटर में तीन दिवसीय 38वीं भारतीय इंजीनियरिंग कांग्रेस का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्होंने समाज में इंजीनियरों की भूमिका के बारे में बोलते हुए कहा कि इंजीनियरों के पास ज्ञान है, क्षमता है। वे समाज के हर वर्ग के लिए अपना योगदान देते हैं।
इंजीनियर हमारे देश के विकास की रीढ़ हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश तेजी से आगे बढ़ता राज्य है, जिसमें इंजीनियरों की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने “शेपिंग द फ्यूचर थ्रू डिसरप्टिव एंड इंटरडिसिप्लिनरी टेक्नोलॉजीस” थीम पर आयोजित भारतीय इंजीनियरिंग कांग्रेस में कहा कि प्रदेश में पहली बार इतना बड़ा आयोजन हो रहा है। उन्होंने कहा कि इंजीनियरिंग कांग्रेस में प्रस्तुत रिसर्च पेपर्स का अध्ययन किया जाएगा और इसका उपयोग शासन के लाभ के लिए किया जाएगा।

₹25 प्रति किलो की दर से चावल बेचेगी सरकार

₹25 प्रति किलो की दर से चावल बेचेगी सरकार 

अकांशु उपाध्याय 
नई दिल्ली। सरकार अब भारत ब्रांड के तहत 25 रुपये प्रति किलो की दर से चावल बेचेगी। इसकी बिक्री भारतीय राष्ट्रीय कृषि सहकारी विपणन संघ (नेफेड), राष्ट्रीय सहकारी उपभोक्ता संघ (एनसीसीएफ) और केंद्रीय भंडार आउटलेट के माध्यम से की जाएगी।
सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार चावल की बढ़ती कीमतों को काबू में रखने के लिए यह कदम उठाया जा रहा है। 
सरकार पहले से ही भारत ब्रांड के तहत आटा और दालों की बिक्री करती है। नवंबर में खाद्दान्न की कीमतों में 10.27 प्रतिशत इजाफा हुआ, जिससे नवंबर महीने में खाद्य मुद्रास्फीति बढ़कर 8.70 प्रतिशत पर पहुंच गई। इससे पिछले महीने में यह 6.61 प्रतिशत थी। कुल कंज्यूमर प्राइस बास्केट में खाद्य मुद्रास्फीति की हिस्सेदारी लगभग आधी है।
बीते कुछ महीनों में सरकार भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) की ओर से की गई ई-नीलामी के माध्यम से खुले बाजार में बिक्री बढ़ाकर गेहूं की बढ़ती कीमतों को नियंत्रित करने में सफल रही है। हालांकि इस दौरान चावल का उठाव न्यूनतम रहा है। ऐसे में इसकी कीमतों में वृद्धि 2024 में होने वाले आम चुनाव को देखते हुए सरकार के लिए एक समस्या खड़ी कर सकती है।
एफसीआई ने हाल ही में चावल के लिए अपने ओएमएसएस नियमों में भी थोड़ा ढील देते हुए संशोधन किया है। बोली लगाने वाले की अेार से बोली लगाए जा सकने वाले चावल की न्यूनतम और अधिकतम मात्रा क्रमश 1 मीट्रिक टन और 2000 मीट्रिक टन तय की गई है। यह कदम बाजार में अनाज की आपूर्ति बढ़ाने के लिए ओएमएसएस के तहत चावल की बिक्री बढ़ाने के लिए उठाया गया है।

तूफान: तबाही के कारण राज्य सुर्खियों में रहा

तूफान: तबाही के कारण राज्य सुर्खियों में रहा

इकबाल अंसारी 
अहमदाबाद। गुजरात के सूरत की एक अदालत में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को मानहानि मामले में दोषी ठहराए जाने और 'बिपरजॉय' तूफान से होने वाली तबाही के कारण 2023 में यह राज्य सुर्खियों में रहा। कांग्रेस नेता ने सजा सुनाये जाने के बाद लोकसभा की सदस्यता खो दी, जिसकी बहाली के लिए उन्हें कानूनी लड़ाई लड़नी पड़ी।
इस वर्ष इन दो घटनाओं के अलावा कई अन्य ऐसे कारण थे जिससे गुजरात देश भर में ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में सुर्खियों में रहा। इनमें यूनेस्को द्वारा राज्य के पारंपरिक नृत्य गरबा को अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की सूची में शामिल किया जाना, सूरत में डायमंड बोर्स का उद्घाटन तथा ऑस्ट्रेलिया के दो विश्वविद्यालयों के परिसर गांधीनगर स्थित ‘गुजरात इंटरनेशनल फाइनेंस टेक’ (गिफ्ट) सिटी में स्थापित किया जाना शामिल है।
सूरत की अदालत ने 23 मार्च को राहुल गांधी को उनकी ‘मोदी उपनाम’ टिप्पणी को लेकर दायर मानहानि मामले में दो साल के कारावास की सजा सुनाई। राज्य के पूर्व मंत्री पूर्णेश मोदी ने 2019 में राहुल गांधी के खिलाफ उनके उस बयान के लिए आपराधिक मानहानि का मामला दायर किया था, जिसमें उन्होंने कहा था, ‘‘सभी चोरों के उपनाम मोदी कैसे है।’’
यह टिप्पणी कांग्रेस नेता ने 13 अप्रैल 2019 को कर्नाटक के कोलार में एक चुनावी रैली में की थी। अदालत से दोषी ठहराए जाने और सजा सुनाये जाने के बाद राहुल गांधी को लोकसभा के सदस्य के रूप में अयोग्य घोषित कर दिया गया। अदालत से दो साल या उससे अधिक की सजा मिलने के बाद जनप्रतिनिधि की संबंधित सदन की सदस्यता स्वत: समाप्त हो जाती है।
नियमों के अनुसार, गांधी को सांसद के रूप में तभी बहाल किया जा सकता था, जब अदालत उनकी दोषसिद्धि पर रोक लगा दे। अपनी दोषसिद्धि पर रोक लगवाने के राहुल गांधी के प्रयास सूरत सत्र अदालत और गुजरात उच्च न्यायालय में विफल रहे, क्योंकि वहां उनकी याचिकाएं खारिज कर दी गयीं।

उच्चतम न्यायालय ने अंततः अगस्त में उनकी दोषसिद्धि पर रोक लगा दी, जिससे उनकी लोकसभा सदस्यता की बहाली का मार्ग प्रशस्त हो गया। गांधी केरल के वायनाड लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं।
गुजरात उच्च न्यायालय ने 31 मार्च को केंद्रीय सूचना आयोग के सात साल पुराने उस आदेश को रद्द कर दिया, जिसमें गुजरात विश्वविद्यालय से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शैक्षणिक डिग्री के बारे में जानकारी उपलब्ध कराने को कहा गया था और उन पर 25,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया।
इस मामले में केजरीवाल की समीक्षा याचिका भी उच्च न्यायालय की एकल-न्यायाधीश पीठ ने खारिज कर दी थी, जिसके बाद उन्होंने उच्च न्यायालय की खंडपीठ का दरवाजा खटखटाया। अप्रैल में, गुजरात विश्वविद्यालय ने प्रधानमंत्री की डिग्री के मुद्दे पर विश्वविद्यालय के खिलाफ की गई टिप्पणियों को लेकर केजरीवाल और आम आदमी पार्टी (आप) नेता संजय सिंह के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला दायर किया था।
मामले की सुनवाई अब भी जारी है। राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव भी अपने उस बयान को लेकर आपराधिक मानहानि के मुकदमे का सामना कर रहे हैं, जिसमें उन्होंने कहा था कि ‘केवल गुजराती ही ठग हो सकते हैं’। तेजस्वी के खिलाफ मामला मई में अहमदाबाद की अदालत में दायर किया गया था। चक्रवाती तूफान बिपरजॉय 15 जून को गुजरात के कच्छ जिले में आया था, जिससे क्षेत्र में फसलों और बिजली आपूर्ति को भारी नुकसान हुआ।
हालांकि, अधिकारियों ने कहा कि तटीय क्षेत्र से 1.10 लाख से अधिक लोगों को सावधानीपूर्वक निकाल लिये जाने के कारण प्राकृतिक आपदा में कोई जन हानि नहीं हुई। ‘बिपरजॉय’ का बांग्ला भाषा में अर्थ आपदा होता है। इस साल अप्रैल में एक बार फिर गुजरात उस वक्त सुर्खियों में आया जब अहमदाबाद की एक अदालत ने 2002 के नरोदा दंगों के मामले में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पूर्व मंत्री माया कोडनानी समेत सभी 67 आरोपियों को बरी कर दिया।
इन दंगों में 11 लोग मारे गए थे। गुजरात के पारंपरिक नृत्य गरबा को इस महीने की शुरुआत में यूनेस्को द्वारा अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की सूची में शामिल किया गया था। गुजरात सरकार ने अहमदाबाद जिले के साणंद में भारत की पहली सेमीकंडक्टर असेंबली और परीक्षण सुविधा की स्थापना के लिए कंप्यूटर स्टोरेज चिप निर्माता माइक्रोन के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। इनके अलावा अन्य कारणों से भी गुजरात सुर्खियों में रहा।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-68, (वर्ष-11)

पंजीकरण:- UPHIN/2014/57254

2. बृहस्पतिवार, दिसंबर 28, 2023

3. शक-1945, पौष, कृष्ण-पक्ष, तिथि-दूज, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:36, सूर्यास्त: 05:18।

5. न्‍यूनतम तापमान- 11 डी.सै., अधिकतम- 25+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें

बीएएलएलबी-एलएलएम का कोर्स हिंदी में शुरू करें  संदीप मिश्र  लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ ने कहा कि बीएएलएल...