सोमवार, 1 जून 2020

देश में राशन कार्ड किया जा रहा हैं लागू

नई दिल्ली। कोरोना संकट के बीच प्रवासी मजदूरों और गरीब तबके लोगों के लिए बड़ी राहत की खबर है। आज से देशभर में वन नेशन वन राशन कार्ड को लागू किया जा रहा है। एक जून से देश में इसकी शुरुआत 20 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से हो रही है। सरकार इस योजना पर तेजी से काम कर रही थी। अब जिसके पास राशन कार्ड नहीं है, वह किसी भी राज्य में इस कार्ड के लिए अप्लाई कर सकता है। दरअसल वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आत्मनिर्भर राहत पैकेज की घोषणा के दौरान वन नेशन, वन राशन कार्ड का जिक्र किया था। इस कल्याणकारी योजना के तहत देश के गरीबों को किफायती कीमत पर देश के किसी भी हिस्से में सस्ते दाम पर राशन मिलेगा। राशन कार्ड का सबसे ज्यादा फायदा बीपीएल (गरीबी रेखा के नीचे) कार्ड धारकों को मिलता है।


क्या है वन नेशन, वन राशन कार्ड योजना
वन नेशन वन राशन कार्ड केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी योजना है, जिसके तहत पूरे देश में पीडीएस के लाभार्थियों को कहीं भी सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत चलने वाली राशन की दुकानों से राशन मिलेगा। यानी किसी भी राज्य का राशन कार्ड धारक दूसरे किसी भी राज्य में भी कार्ड दिखाकर राशन ले सकेगा। उदाहरण के तौर पर किसी का बिहार में राशन कार्ड बना हुआ है और वो दिल्ली में काम करता है तो वो बिहार के राशन कार्ड से दिल्ली में राशन ले सकेगा।


वन नेशन, वन राशन कार्ड के फायदेः इस योजना के लागू हो जाने के बाद पूरे देश में एक ही तरह का राशन कार्ड होगा। लाभार्थी देश में कहीं भी ई-पीओएस उपकरण पर बॉयोमेट्रिक प्रमाणन करने के बाद अपने मौजूदा राशन कार्ड से राशन ले सकते हैं। लाभार्थियों को अंगूठा लगाना अनिवार्य होगा, यही प्रमाण होगा। बॉयोमेट्रिक इस्तेमाल में आधार का इस्तेमाल होगा यानी आधार से लाभार्थियों की पहचान होगी।


राशन कार्ड 10 नंबर का होगाः केंद्र सरकार राज्यों को 10 अंकों का राशन कार्ड नंबर जारी करेगी। इस नंबर में पहले दो अंक राज्य कोड होंगे और अगले दो अंक राशन कार्ड नंबर होंगे। इसके अतिरिक्त राशन कार्ड नंबर के साथ एक और दो अंकों के सेट को जोड़ा जाएगा। इसे देश भर में लागू करने के लिए राशन कार्डों की पोर्टेबिलिटी की सुविधा शुरू होगी।


कई चीजों से किडनी पर होगा 'असर'

रोजाना के खाने में हम ऐसी कई चीजों के सेवन करते हैं जो हमारी किडनी के लिए सही नहीं होतीं या जो हमारी किडनी पर बुरा असर डाल सकती हैं। अक्सर ऐसी चीजों के असर हमें एक या दो दिन में दिखाई नहीं देते और हमें लगता है कि हमें कोई नुक्सान नहीं हो रहा है। लेकिन आप क्या खा रहे हैं, यह आपके स्वास्थ्य पर लंबा और गहरा असर डालता है। इसलिए अपनी डाइट पर ध्यान देना और ज्यादा से ज्यादा हेल्दी भोजन करना हमारे स्वास्थ्य के लिए बेहतर होता है। अपनी किडनी के स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहते हैं तो इन बातों पर ध्यान देना न भूलें, क्योंकि इन खाने की चीजों से आपकी किडनी की सेहत पर असर पड़ता है, जो शायद आप जानते भी नहीं होंगे:
नमक: अधिक नमक खाने से कुछ लोगों का ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है और इससे किडनी खराब होने की गति भी बढ़ सकती है। इससे किडनी स्टोन भी होने की संभावना होती है।
अधिक प्रोटीन नहीं लाभकारी : प्रोटीन हेल्दी डाइट के लिए काफी अच्छा होता है, लेकिन अगर आपकी किडनी ठीक से काम नहीं कर पाती है तो ज्यादा प्रोटीन आपके लिए हानिकारक हो सकता है। इसके लिए आप डॉक्टर से भी पूछ सकते हैं। किडनी से सम्बंधित समस्या होने पर छोटे पोरशन में प्रोटीन लेना होता है। अंडा, मछली, नट्स आदि में प्रोटीन की अधिक मात्रा पाई जाती है।
केम्पा/सोडा : अगर आप एक दिन में दो या उससे अधिक सोडा या केम्पा के ग्लास पी जाते हैं तो आपको किडनी से जुडी बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। एक स्टडी के अनुसार, डाइट सोडा पीने वाली महिला की किडनी 20 साल बाद आम महिला की किडनी से 30 प्रतिशत कम काम कर रही थी।
डिहाइड्रेशन: यह तो सभी को पता है कि हमारा शरीर अधिकतर पानी से बना है। इसलिए हमारे शरीर में ठीक मात्रा में पानी होना जरूरी है। अगर आप सही मात्रा में रोज पानी नहीं पी रहे हैं तो किडनी डैमेज होने की संभावना बढ़ जाती है। अब आप यह कैसे पता लगाएं कि आप ठीक मात्रा में पानी पी रहे हैं? इसका जवाब है कि अगर आपके मूत्र का रंग हल्का पीला है तो समझ लें कि आप ठीक मात्रा में पानी पी रहे हैं।
अधिक एक्सरसाइज : काफी लम्बे समय तक बहुत अधिक वर्क-आउट करना भी परेशानी का सबब बन सकता है। इससे रेब्डोमाईओलाइसिस नामक बीमारी होने का खतरा रहता है। इस बीमारी में डैमेज हुए मसल टिश्यू बहुत जल्दी टूटने लगते हैं। आपके खून में इसके टूटे हुए पदार्थ किडनी फेल करने तक में सक्षम होते हैं। इसलिए अगर आप बॉडी बना रहे हैं या वर्क आउट कर रहे हैं तो धीरे-धीरे इसे अपने रूटीन में लाएं। अगर आपको गाढ़े पीले रंग का यूरिन आता है और मसल में दर्द भी हो तो डॉक्टर को दिखाएं।


परिजन के शव को सड़क किनारे छोड़ा

प्रयागराज (उत्तर प्रदेश)। कोरोना वायरस के खौफ के चलते एक परिवार ने 35 वर्षीय एक परिजन के शव को सड़क के किनारे छोड़ दिया, जबकि उसकी मौत अस्थमा और दिल की बीमारियों से हुई थी। पुलिस ने सोमवार को यह जानकारी दी। प्रवासी श्रमिक चार दिन पहले मुंबई से प्रतापगढ़ में अपने गांव लौटकर आया था और शनिवार को उसे सांस और हृदय रोगों के चलते स्वरूप रानी अस्पताल लाया गया था। रानीगंज के डिप्टी एसपी अतुल अंजन त्रिपाठी ने संवाददाताओं को बताया, “एक डॉक्टर से सलाह लेने के बाद घर लौटते समय उनकी हालत अचानक बिगड़ गई और उनकी मौत हो गई। परिवार के सदस्यों को संदेह था कि उसकी मौत कोरोनावायरस से हुई है, लिहाजा उसके शव को गांव के बाहर छोड़ दिया और घर चले गए।”


रविवार तड़के प्रयागराज-प्रतापगढ़ राजमार्ग पर रानीगंज पुलिस स्टेशन के अंडर आने वाले दमदम गांव में सड़क किनारे पड़े शव को लोगों ने देखा। पुलिस ने परिवार का पता लगाया लेकिन उन्होंने शव को लेने से इनकार कर दिया। उन्होंने आगे बताया, “प्रवासी को थर्मल स्कैनिंग और चिकित्सीय जांच के बाद 21-दिवसीय होम संगरोध की सलाह दी गई थी। उसको अस्थमा और हृदयरोग की समस्या थी।” एक स्वास्थ्य टीम ने बाद में मृत व्यक्ति के चिकित्सा इतिहास का विश्लेषण किया और कहा कि अस्थमा और दिल की बीमारी के कारण हुई जटिलताओं से उसकी मृत्यु हो गई। वरिष्ठ पुलिस और स्वास्थ्य अधिकारियों ने तब परिवार को आश्वस्त किया कि वह कोरोनावायरस से नहीं मरा और यहां तक कि शरीर से एक नमूना भी लिया और परीक्षण के लिए भेजा। अधिकारियों ने परिवार के डर को दूर करने के लिए उन्हें पीपीई किट और सैनिटाइजर दिया। अंतत: रविवार शाम को प्रयागराज में शव का अंतिम संस्कार किया गया।


बृजेश केसरवानी


बिना सब्सिडी वालें सिलेंडर हुए महंगें

नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में रसोई गैस के दाम बढ़ने के कारण देश में बिना सब्सिडी वाला रसोई गैस सिलेंडर आज से महँगा हो गया है। देश की सबसे बड़ी तेल विपणन कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली 14.2 किलोग्राम के बिना सब्सिडी वाले घरेलू रसोई गैस सिलेंडर का मूल्य जून महीने के लिए 593 रुपये तय किया गया है।


मई में इसकी कीमत 581.50 रुपये थी। इस प्रकार इसमें 11.50 रुपये की वृद्धि की गयी है। इससे पहले मई में कीमत में 162.50 रुपये की बड़ी कटौती की गयी थी। इंडियन ऑयल के बयान में कहा गया है “अंतर्राष्ट्रीय बाजार में जून महीने के लिए रसोई गैस की कीमत बढ़ी है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत में बढ़ोतरी के कारण दिल्ली में रसोई गैस का बाजार मूल्य प्रति सिलेंडर 11.50 रुपये बढ़ाया गया है। हालाँकि इससे प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के लाभार्थी प्रभावित नहीं होंगे क्योंकि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 30 जून तक उन्हें मुफ्त सिलेंडर दिया जायेगा।”


कैबिनेट बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू

नई दिल्ली। मोदी कैबिनेट की बैठक के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू हो गई है। किसान और उद्योग को लेकर कई अहम फैसले लिए गए हैं। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि एमएसएमई को 20 हजार करोड़ लोन के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई है, जिससे नौकरी के अवसर बढ़ेंगे। कैबिनेट के फैसले से किसानों को करोड़ो का लाभ होगा।


प्रकाश जावड़ेकर ने कहा 14 फसलों पर किसानों को लागत से 50 फीसदी से 83 फीसदी ज्यादा कीमत मिलेगी। खेती और उस जुड़े काम के लिए 3 लाख तक के अल्पकालिक कर्ज के भुगतान की तिथि 31 अगस्त 2020 तक बढ़ाई गई है। सरकान ने किसानों के लिए बड़े फैसले किए हैं। न्यूनतम समर्थन मूल्य उसकी कुल लागत का डेढ़ गुना ज्यादा रखने का वादा सरकार पूरा कर रही है।

सरकारों को ज्यादा गंभीर होने की सलाह

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कोरोना को लेकर केन्द्र और राज्य सरकारों को और ज्यादा गंभीर होंने की सलाह दी है।


मायावी ने सोमवार को ट्वीटर के माध्यम से लिखा, “देश में कोरोना महामारी से पीड़ितों व उससे बढ़ती मौतों की चिंताओं के बीच आज 69वें दिन लॉकडाउन-5 कुछ छुट के साथ प्रारम्भ हो गया है जो 30 जून तक चलेगा जबकि अभी भी पूरा देश कोरोना की मार से त्रस्त है तो ऐसे में केन्द्र व राज्य सरकारों को और भी ज्यादा गंभीर होने की जरूरत है।” उन्होंने आगे लिखा, “नेपाल ने अपने देश का नया नक्शा तैयार करके उसमें कालापानी सहित भारत के 370 किलोमीटर क्षेत्र पर अपना दावा ठोककर भारत को निश्चित ही नई दुश्कर स्थिति में डाल दिया है। ऐसे में पड़ोसी देश नेपाल के इस अनापेक्षित कदम पर केन्द्र की सरकार को जरूर गंभीरतापूर्वक सोच-विचार करना चाहिए।”

शहर की सीमा हफ्ते तक बंद रहेगीः अरविंद

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को घोषणा की है कि शहर की सीमा एक हफ्ते तक और बंद रहेगी। हालांकि उन्होंने नाई की दुकानों और सैलून्स को खोलने की अनुमति दे दी है, जबकि स्पा शहर में बंद रहेंगे। सोमवार से लॉकडाउन के पांचवें चरण की शुरुआत हो रही है। मीडिया से बातचीत में केजरीवाल ने कहा कि लॉकडाउन का नया संस्करण शुरू हो रहा है और केंद्र ने अपने दिशा-निर्देश साझा किए हैं।


उन्होंने कहा, “इसके आधार पर हमने नाई की दुकानों और सैलून्स को खोलने की अनुमति देने का फैसला किया है। हालांकि स्पा फिलहाल बंद रहेंगे।” मुख्यमंत्री ने कहा, “रात के नौ बजे से सुबह के पांच बजे तक कर्फ्यू बना रहेगा। इसके साथ ही उन्होंने आगे यह भी कहा कि अब चार पहिया वाहनों या दो पहिया वाहनों पर लोगों की सवारी पर कोई सीमा नहीं रहेगी।” उन्होंने कहा, “पहले के आदेशानुसार ऑटो, ई-रिक्शा और अन्य वाहनों में यात्रियों की संख्या निर्धारित थी, लेकिन अब हम ऑटो, ई-रिक्शा और अन्य वाहनों में यात्रा करने वाले यात्रियों की संख्या पर से प्रतिबंध हटा रहे हैं।” केजरीवाल ने कहा, “अब तक जिन भी चीजों की अनुमति थी, वे भविष्य में भी बरकरार रहेंगी। बाजारों में सभी दुकानों को खोलने की अनुमति दी जाएगी, कोई भी ऑड-ईवन लागू नहीं किया जाएगा।” केजरीवाल ने कहा, “हम बाजारों में दुकानों के लिए ऑड-ईवन के नियम अपना रहे थे, लेकिन केंद्र सरकार ने अब ऐसा कोई नियम नहीं बताया है, इसलिए सभी दुकानें अब खुल सकती हैं।” वह आगे कहते हैं, “अगर हमने सीमाएं खोल दीं, तो देश भर से लोगों का आना शुरू हो जाएगा, क्योंकि दिल्ली में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर हैं।” इस पर उन्होंने जनता से राय मांगी है। केजरीवाल ने कहा, “सीमा को एक सप्ताह के लिए सील कर दिया जाएगा और केवल आवश्यक सेवाओं की अनुमति दी जाएगी। बाकी, यह जनता के सुझावों पर निर्भर करेगा।” उन्होंने पूछा, “हम सरकारी अस्पतालों में मुफ्त में इलाज करा रहे हैं। जस समय हम सीमा को खोलेंगे, यहां बिस्तर सीमित हो जाएंगे। हमें क्या करना चाहिए, क्या हमें सीमा खोलनी चाहिए?” केजरीवाल ने कहा कि लोग शुक्रवार शाम के पांच बजे तक अपनी प्रतिक्रियाएं दे सकते हैं। इसके लिए तीन तरीके हैं – 1031 डायल करें और अपना संदेश रिकॉर्ड करें, 8800007722 पर व्हाट्स एप करें या दिल्लीसीएम डॉट सजेशंस एट द रेट डॉट कॉम पर ईमेल करें।

यूपी में आकड़ा बढ़कर 8,000 के पार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में एक दिन में आए 378 सर्वाधिक दैनिक मामलों के बाद राज्य में कोरोना वायरस महामारी की चपेट में आए लोगों का आकंड़ा बढ़कर आठ हजार के पार पहुंच गया। रविवार को ही यहां चार नई मौतें देखने को मिली हैं।


संयुक्त निदेशक/एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम के निगरानी अधिकारी (आईडीएसपी) डॉ. विकासेंदु अग्रवाल ने कहा, “चार मौतें आगरा, मेरठ, देवरिया और गोरखपुर में हुई हैं, रविवार को ही 378 नए मामले सामने आने के बाद महामारी से संक्रमित हुए लोगों का कुल आंकड़ा बढ़कर 8 हजार 075 हो गया है।” अग्रवाल ने कहा, “राज्य में सामने आए मामलों की यह संख्या दैनिक आंकड़ों में सर्वाधिक है।”


एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर कहा, “लॉकडाउन में ढील दी जा रही है, लेकिन लोगों को स्थिति की गंभीरता को महसूस करने की आवश्यकता है। यहां तक कि सुरक्षा प्रोटोकॉल के थोड़े से उल्लंघन से कोरोना के मामलों में तेजी आ सकती है।”


'श्रद्धालु' विष्णु की प्रसन्नता के लिए व्रत करेंगे

रायपुर। निर्जला एकादशी मंगलवार को मनाई जाएगी। इसमें दान का विशेष महत्व है। ऐसे में आस्थावान शहर के प्रमुख बाजारों में जाकर दान के लिए सामग्री खरीदेंगे। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु भगवान श्री विष्णु की प्रसन्नाता के लिए व्रत करेंगे। इस व्रत के दौरान व्रतधारी श्रद्धालु पानी का त्याग करते हुए ब्राह्मण और जरूरतमंद लोगों को ठंडे पेयजल के लिए मिट्टी का घड़ा, सुराही, मौसमी फल सहित अन्य खाद्य सामग्री के दान करने का महत्व है। व्रत के दौरान श्रद्धालुओं को ग्रीष्मऋतु के दौरान उपयोग होने वाली वस्तुओं का दान करना चाहिए, जिससे अनंत पुण्य की प्राप्ति होती है।


 

 


निर्जला एकादशी ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को पड़ती है। इस दिन जलदान करने का विशेष महत्व है। इसके लिए जगह-जगह राहगीरों के लिए प्याऊ शुरू कराई जा सकती है। मिट्टी के बर्तन खरीदकर जरूरतमंद लोगों को दान करना चाहिए। खरबूजा और तरबूज जल देने वाला फल है। इसके अंदर जल की मात्रा अधिक होती है। इसलिए खरबूज और तरबूज का दान करना चाहिए। गर्मी के कारण शरीर में मधु शक्कर का लेवल कम हो जाता है। इसलिए जरूरतमंद लोगों को शक्कर का दान करना चाहिए। इसके अलावा ब्राह्मणों को सीधे यानि आटा, दाल, चावल, घी आदि का दान करने का भी महत्व है। यह व्रत अत्यधिक कठिन होता है लेकिन श्रद्धालु 24 घंटे तक निर्जला रहकर व्रत करते हैं।


हज़ारो श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई

प्रयागराज। गंगा दशहरा में हर वर्ष की अपेक्षा भीड़ कम रही फिर भी हज़ारो श्रद्धालुओं ने संगम में डुबकी लगाई। देश के संतों की सर्वोच्च धार्मिक संस्था अखिल भारतीय अखाडा परिषद के तमाम संतों ने इस मौके पर संगम मे डुबकी लगाई ।इन संतों में अखिल भारतीय अखाडा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहन्त नरेंद्र गिरि , महामंत्री श्रीमहन्त हरिगिरि , जूना अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहन्त प्रेम गिरि , जूना अखाड़े के पूर्व अध्यक्ष श्रीमहंत सोहन गिरि और महानिर्वाणी अखाडे के श्रीमहंत यमुना पुरी , श्रीमहन्त पुष्कर गिरि , महन्त ईच्छा गिरि , थानापति अरुण भारतीय प्रमुख रहे। संगम संगम स्नान के दौरान हर हर महादेव , हर हर गंगे के साथ गंगा मैया के जयकारे लागाये और गंगा की पूजा अर्चना के साथ साथ गंगा को पुष्प भी अर्जित किये। इस मौके पर श्री पंचदशनाम जूना अखाडे के संरक्षक श्रीमहंत हरिगिरि और अध्यक्ष श्रीमहन्त ने गंगा दशहरा का महत्व बताते हुए कहा कि आज के ही दिन गंगा धरती पर  सभी के उद्धार के लिए अवतरित हुई थीं और जरूर ही  गंगा मैया कोरोना महामारी से सभी को जल्दी निजात दिलायेंगी।



  • ब्रजेश केसरवानी


अमेरिका के 40 शहरों में हो रही हिंसा

नई दिल्ली/ वाशिंगटन। अमेरिका में पिछले 6 दिन से 40 से अधिक शहरों में भीषण प्रदर्शन, हंगामा और हिंसा हो रही है। बेकाबू प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों, दुकानों और मकानों को आग के हवाले कर दिया है। वाहनों में तोड़फोड़ और आगजनी कर सरकारी संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचाया गया है।प्रदर्शनकारियों ने हंगामा करते हुए पूरी की पूरी शॉपिंग मॉल को ही लूट लिया। इतना सब होता देख कुछ देर के लिए व्हाइट हाउस को बंद करना पड़ गया। हालात अभी भी काबू नहीं किया जा सका है। प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच जबरदस्त भिड़ंत हुई है। प्रदर्शनकारियों का यह हिंसा कई जगहों पर प्रदर्शन दंगे में बदल गया है। लोगों ने पुलिस की गाड़ियों, इमारतों में आग लगा दी और दुकानों से सामान लूट लिया। नैशविले में कोर्ट की ऐतिहासिक बिल्डिंग को आग के हवाले कर दिया गया। इस दौरान कम से कम 2 लोगों की मौत भी हो गई।


प्रदर्शन में शामिल शहरों में न्यूयॉर्क, लॉस एंजिलिस, कैलिफोर्निया, ओहियो, कोलोराडो, विस्कोन्सिन, केन्टकी, उटाह, टेक्सास और वॉशिंगटन प्रमुख हैं। मिन्नेसोटा और जॉर्जिया राज्य में इमरजेंसी का ऐलान करना पड़ा। 40 से अधिक शहरों में दंगे की वजह से कर्फ्यू लगाना पड़ा। कर्फ्यू के बावजूद प्रदर्शन खत्म नहीं हुए हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर मिनीपोलिस में प्रदर्शन कर रहे लोगों को ठग कहा था. पुलिस हिरासत में अश्वेत व्यक्ति की मौत के मामले में डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि इस एक पाप की वजह से हमारे देश पर अक्सर दाग लगता है।


गाइडलाइन के साथ लॉकडाउन में ढ़ील

मुंबई। कोरोना वायरस के चलते मार्च के महीने से अभी तक देशभर में लॉकडाउन लगा हुआ है। हालांकि अब खास शर्तों और गाइडलाइन्स के साथ लॉकडाउन में ढील दी जा रही है। इसी के साथ फिल्मों और टीवी सीरियल्स की शूटिंग दोबारा शुरू होगी। मार्च के महीने से फिल्म और टीवी इंडस्ट्री पर ताला लगा हुआ है। अब महाराष्ट्र सरकार ने गाइडलाइन्स के साथ शूटिंग करने की इजाजत दी है।


इसके लिए नए नियम कुछ इस प्रकार हैंः फिल्म और टीवी सीरियलों के सेट्स पर पाबंदियां लगाई गई हैं, जिनका पालन सभी को करना होगा। नई गाइडलाइन के अनुसार कोई भी 65 की उम्र से ज्यादा का व्यक्ति, प्रेग्नेंट महिला, एक्टर्स या स्टाफ के पार्टनर्स आदि सेट पर नहीं आ सकते। हर फिल्म सेट पर डॉक्टर्स, नर्स और एम्बुलेंस का होना जरूरी है और किसी के भी कोरोना पॉजिटिव निकलने पर तुरंत उसका इलाज होना चाहिए। सेट पर किसी को भी हाथ मिलाकर, किस करके या गले लगाकर हैलो करने की मनाही है। किसी दूसरे का मेकअप इस्तेमाल नहीं करना है। साथ ही गंदे कपड़ों की धुलाई रोज होनी जरूरी है. सेट्स पर इस्तेमाल होने वाले सामान को कम करने के लिए भी कहा गया है। सेट्स पर हर तरह की सफाई रखी जानी जरूरी है। एक टेंट में 5 लोगों से ज्यादा एक बार में नहीं रह सकते. फिल्मों या सीरियल में बड़े सीक्वेंस जैसे शादी वगैरह की शूटिंग मना है। सभी को सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करना है। किसी भी सेट पर 33% स्टाफ को इस्तेमाल करने के लिए कहा गया है। हर सदस्य सेट पर एंट्री करने से पहले अपने हाथ साबुन और पानी से धोएगा, ट्रैवल के समय पहने हुए कपड़ों को बदलेगा और नए साफ कपड़ों को पहनकर काम करेगा. इसके साथ ही स्टाफ के सदस्यों को अपने जूते-चप्पल भी उतारने होंगे और नए फुटवेयर और मोज़े पहनने होंगे, जो वो अपने घर से ही लाएंगे।


गाइडलाइन के अनुसार अगर हो सके तो कास्टिंग, लुक टेस्ट और मीटिंग वीडियो कॉल, वीडियो कॉन्फ्रेंस, फेसटाइम या स्काइप पर की जाए। आर्टिस्ट को अपने घर पर ही तैयार होने की कोशिश करनी है और सेट पर ज्यादा स्टाफ लेकर नहीं आना है। एक्टर्स को अपने साथ एक स्टाफ मेम्बर को लाने की इजाजत है, जो हेयर और मेकअप दोनों कर सके. इसके साथ ही हर तरह की फिटिंग का काम भी एक्टर्स से घर पर ही करने को कहा गया है। आर्टिस्ट को अपने घर से खाना लाने की सलाह दी गई है। सेट्स पर कम से कम जूनियर आर्टिस्ट होंगे। सभी सदस्य अपना पहचान पत्र लेकर आएंगे। साथ ही उन्हें सेट्स तक ट्रेवल करने के लिए पुलिस से अनुमति लेनी पड़ेगी और आईडी दिखाना होगा। एक्टर्स को खुद से कुछ कॉस्टयूम लाने होंगे, जिन्हें वे शूट पर पहन सकें। प्रिंटिंग की जगह पर सैनिटाइजर का होना जरूरी है। साथ ही स्क्रिप्ट या किसी चीज की कॉपी को कम से कम लोग छुए तो बेहतर होगा। टैलेंट और मेकअप आर्टिस्ट को अपने सेशन के पहले और बाद में हाथ धोने जरूरी हैं। साथ ही हर एक्टर के लिए अलग मेकअप ब्रश, हेयर ब्रश और कंघी का इस्तेमाल जरूरी है। इनका सैनिटाइज होना भी महत्वपूर्ण है। हेयर और मेकअप के समय आर्टिस्ट को PPE पहनना जरूरी होगा, जिससे अलग-अलग लोगों के कॉन्टेक्ट में आने पर भी वो सुरक्षित रहे। एक्टर्स अपने बाल खुद बनाकर आएं तो बेहतर होगा. हेयर और मेकअप आर्टिस्ट को फेस शील्ड पहनना जरूरी है। वरना हेयर और मेकअप के स्टेशन के बीच 6 फुट का फासला होना चाहिए। डिस्पोजेबल किट का इस्तेमाल मेकअप के समय किया जाए, जिससे इस्तेमाल के बाद उसे फेंका जा सके और अगली बार फ्रेश किट से मेकअप हो।


महाराष्ट्र, गुजरात-दिल्लीः 1,26,611 संक्रमित



नई दिल्ली। महाराष्ट्र, तमिलनाडु, राजधानी दिल्ली और गुजरात में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 1,26,611 हो गयी है जो देश भर के कुल संक्रमितों का 66.45 प्रतिशत है तथा अब तक 3970 लोगों की मौत हो चुकी हैं।


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 8392 नये मामले सामने आये हैं, जिसके बाद कुल संक्रमितों की संख्या 1,90,535 पर पहुंच गयी है। देश में इस संक्रमण से कुल 5394 लोगों की मौत हुई है तथा 91,819 लोग स्वस्थ हुए हैं।




 








 

घुसपैठ की कोशिश, 3 आतंकवादी मरें

नई दिल्ली। जम्मू एवं कश्मीर में सोमवार को नियंत्रण रेखा के पार भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की कोशिश के दौरान पाकिस्तान के तीन आतंकवादी मारे गए। रक्षा सूत्रों ने कहा, “28 मई 2020 से चल रहे एक जवाबी घुसपैठ अभियान में, भारतीय सेना के सतर्क सैनिकों ने नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ करने की कोशिशों को समाप्त कर दिया।”


आतंकवादी भारी हथियारों से लैस थे और पाकिस्तान में प्रशिक्षित हुए थे। सुरक्षा बल, इलाके में तलाशी अभियान चला रहे हैं। जम्मू-कश्मीर में अशांति फैलाने के लिए भारत में घुसने की कोशिश करने वाले आतंकवादियों के बारे में खुफिया एजेंसियों द्वारा सचेत किए जाने के बाद से ही काउंटर घुसपैठ शुरू हो गई।


एजेंसियों ने कहा, पाकिस्तान एलओसी के पार आतंकियों को भेजने की कोशिश कर रहा है। खुफिया एजेंसियों के मुताबिक, गुरेज सेक्टर के सामने स्थित पाकिस्तान पोस्ट और सरदारी पर केंद्रित अज्ञात आतंकवादियों के दो समूह घुसपैठ की योजना बना रहे थे। एजेंसियों ने यह भी बताया कि एक अन्य सेट जैश-ए-मोहम्मद के नेतृत्व वाले अज्ञात आतंकवादी हैं जो माछिल सेक्टर के विपरीत ओर केल और तेजियन में केंद्रित हैं और घुसपैठ की योजना बना रहे थे। भारतीय सेना के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में नियंत्रण रेखा के करीब 15 लॉन्च पैड आतंकवादियों से भरे हुए हैं। अधिकारी ने कहा कि उन्हें आशंका है कि इस गर्मी में सीमा पार से घुसपैठ के प्रयासों में वृद्धि हो सकती है, ताकि वे घाटी में घटते आतंकवादी कैडरों की भरपाई कर सकें।


डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने वाले हिरासत में

कानपुर। समाजवादी पार्टी के विधायक इरफान सोलंकी, उनके भाई और एक पूर्व नगर सेवक कानपुर के प्रेम नगर हॉटस्पॉट क्षेत्र में एक बैठक आयोजित करने और सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों का उल्लंघन करने के चलते हिरासत में लिए गए हैं। प्रेम नगर इलाके में प्रतिबंधों को हटाए जाने की मांग को लेकर गुरुवार को सैकड़ों लोग प्रदर्शन में शामिल हुए थे।


इस घटना से संबंधित एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस चौकी प्रभारी को निलंबित कर दिया गया। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) अनंत देव ने कहा, “हमने शहर में लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन के लिए विधायक, उनके भाई और पूर्व नगर सेवक फरहान लारी को हिरासत में लिया है।” उन्होंने आगे कहा कि वीडियो से पता चलता है कि केवल कुछ पुलिसकर्मियों और अन्य लोगों ने अपने चेहरे को मास्क से ढके हुए थे, जबकि अधिकांश लोगों ने कथित रूप से सुरक्षा नियमों और अनिवार्य सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्लंघन किया।


इमारतः दुर्घटना में घायल होने की सूची नहीं

नई दिल्ली। दिल्ली स्थित निर्माण भवन में सोमवार को आग लग गई। कई सरकारी कार्यालयों वाली इस इमारत में हुई दुर्घटना में अभी तक किसी के घायल होने की सूचना नहीं है। दमकल की गाड़ियों को मौके पर रवाना किया गया है। एक अग्निशमन अधिकारी ने कहा, “सूचना मिली की निर्माण भवन की चौथी मंजिल पर आग लग गई है, जिसके बाद जल्दी से दमकल की पांच गाड़ियों को मौके पर भेजा गया है।” अधिकारी ने कहा कि फोन सुबह 9.01 बजे आया और फिलहाल आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है।


गौरतलब है कि निर्माण भवन में आवास व शहरी मामलों के मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय और अन्य कई केंद्रीय मंत्रालयों के कार्यालय हैं।


गर्मी में तमाम समस्याएं पैदा होती हैं

गर्मी के मौसम में स्किन से जुड़ी तमाम समस्याएं पैदा होने लगती है। खासतौर पर वो लोग जिनकी स्किन ऑयली है, उन्हें तो और भी ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। मगर गुलाब जल आपकी चेहरे से डलनेस, एक्ने, सनबर्न के निशान और ऑयल को कंट्रोल करने में बेहद मदद करेगा।


ऑयली स्किन वालों को गर्मी में गुलाब जल जरूर प्रयोग करना चाहिए। यह एक टोनर की तरह काम किया जा सकता है। यह पोर्स को अंदर से साफ करता है और स्किन में प्राकृतिक चमक भरता है। आज हम आपको बताएंगे कि इसे अपनी स्किन केयर रूटीन में क्यों शामिल करना चाहिए और इससे डीआईवाई फेस पैक बनाने की विधि…
चंदन और गुलाब जल फेस मास्क
सामग्री:
चंदन – 2 बड़ा चम्मच
गुलाब जल – 2 बड़ा चम्मच
पैक बनाने की विधि-
गुलाब जल और चंदन पाउडर मिक्स करें। इसे चेहरे पर 25 मिनट के लिए लगाए रखें। अगर आप चाहें तो चंदन की जगह मुल्तानी मिट्टी का उपयोग कर सकते हैं। सर्वोत्तम परिणामों के लिए सप्ताह में 2-3 बार इसे लगाएं। यह ऑयली स्किन टाइप के लिए सबसे अच्छे फेस मास्क में से एक है। यह तेल उत्पादन को कम करता है और मुंहासों को आने से रोकता है।
बेसन और गुलाब जल फेस मास्क
सामग्री:

*बेसन – 1 बड़ा चम्मच
*गुलाब जल – 2 बड़ा चम्मच
पैक बनाने की विधि:
1 टीस्पून बेसन और 2 टीस्पून गुलाब जल को मिलाकर एक बेहतरीन फेस मास्क बनाया जाता है। फेस मास्क बनाएं। यह ऑयली स्किन के लिए सबसे अच्छा फेस मास्क है।
त्वचा में निखार लाने के लिए शहद और गुलाब जल
सामग्री:

*शहद – 2 बड़े चम्मच
*गुलाब जल – 2 बड़े चम्मच
पैक बनाने की विधि-
शहद में त्वचा को चमकाने वाले गुण होते हैं जो पिगमेंटेशन, निशान और टैन को कम करते हैं। गुलाब जल और शहद मिलाएं। अपने चेहरे और गर्दन पर पैक की एक समान परत लगाएं। 15 मिनट के बाद गर्म पानी से धो लें। एक महीने के लिए नियमित रूप से उपयोग करें और खुद ही अंतर देखें।
नींबू का रस और गुलाब जल मुंहासों के लिए
सामग्री:

*गुलाब जल – 1 बड़ा चम्मच
*नींबू का रस – 1 बड़ा चम्मच
पैक बनाने की विधि-
ताजे नींबू के रस को गुलाब जल में मिलाकर मुंहासों पर लगाएं। इसे सूखने के लिए छोड़ दें। 15 मिनट के बाद गर्म पानी से धो लें। मुंहासों से मुक्त त्वचा के लिए इस प्रक्रिया को एक हफ्ते तक बार दोहराएं।
एप्पल साइडर विनेगरऔर गुलाब जल टोनर
सामग्री:

एप्पल साइडर विनेगर – 2 बड़ा चम्मच
गुलाब जल – 2 बड़ा चम्मच
पैक बनाने की विधि-
एप्पल साइडर विनेगर के साथ गुलाब जल बहुत अच्छा टोनर बनाता है। एक स्प्रे बॉटल में इन दोनों चीजों को मिला लें और चेहरे पर उपयोग करें। टोनर का उपयोग करने के बाद, अपने चेहरे पर मॉइस्चराइज लगाएं। यह टोनर तैलीय त्वचा के लिए पूरी तरह से काम करता है और पीएच लेवल को संतुलित करता है। इस टोनर को रोजाना 1-2 बार इस्तेमाल किया जा सकता है।


सीएम रावत सहित 9 मंत्री क्वॉरेंटाइन भेजे

देहरादून। उत्तराखंड में पूरी की पूरी सरकार क्वॉरन्टीन हो गई है। उत्तराखंड सरकार में कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज के कोविड-19 रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित बाकी 9 मंत्री भी क्वॉरन्टीन में भेजे गए हैं। फिलहाल यह सभी होम क्वॉरन्टीन हैं।


दरअसल, सतपाल महाराज ने हाल ही में कैबिनेट की एक बैठक में हिस्सा लिया था। बैठक के तीसरे दिन सतपाल महाराज की कोरोनावायरस टेस्ट रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इससे पहले उनकी पत्नी अमृता सतपाल भी पॉजिटिव पाई गई थी, उनके बाद ही सतपाल महाराज का भी कोरोना टेस्ट कराया गया था, रिपोर्ट पॉजिटिव आया। दिलचस्प बात यह है कि सतपाल महाराज ने समय एक महत्वपूर्ण बैठक में हिस्सा लिया जब उनके घर के सदस्य क्वॉरन्टीन में थे। फिलहाल मुख्यमंत्री और उनके स्टाफ के साथ- साथ सभी मंत्रियों और उनका स्टाफ होम क्वॉरन्टीन में हैं। सरकार के कई अन्य अधिकारी भी होम क्वॉरन्टीन हैं।रविवार सुबह उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में उस समय हड़कंप मच गया जब पता चला कि कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है। इसके बाद सभी मंत्री अपने-अपने घर में क्वॉरन्टीन हो गए और घर से ही सरकार का कामकाज देखने लगे। खुद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी लोगों से मिलना जुलना बंद कर दिया वह अपने घर में ही क्वॉरन्टीन हैं और घर से ही सरकार का कामकाज देख रहे हैं। 


दो लाख के करीब पहुंचा वायरस संक्रमण

नई दिल्ली! देश में कोरोना वायरस (corona virus) से संक्रमित मरीजों की संख्या में हर दिन तेजी से इजाफा हो रहा है! स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, देश में अब इस महामारी से संक्रमित मरीजों की संख्या 2 लाख करीब हो गई है! मंत्रालय के मुताबिक, अबतक 1 लाख 90 हजार 535 लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं! इसमें 5394 लोगों की मौत हो चुकी है! हालांकि 91819 लोग ठीक भी हुए हैं! पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के मामलों में 8392 की बढ़त हुई और 230 मौतें हुईं!


जानिए अबतक किस राज्य में कितनी मौतें हुईं?


स्वास्थय मंत्रालय के मुताबिक, महाराष्ट्र में 2286, मध्य प्रदेश में 350, गुजरात में 1038, दिल्ली में 473, तमिलनाडु में 173, तेलंगाना में 82, आंध्र प्रदेश में 62, कर्नाटक में 51, उत्तर प्रदेश में 213, पंजाब में 45, पश्चिम बंगाल में 317, राजस्थान में 194, जम्मू-कश्मीर में 28, हरियाणा में 20, केरल में 9, झारखंड में 5, बिहार में 21, ओडिशा में 7, असम में 4, हिमाचल प्रदेश में 5, मेघालय में 1 मौत हुई है!


आज से पटरी पर उतरी 200 स्पेशल ट्रेन


रेल मंत्री पीषूय गोयल ने एक जून से जिन 200 स्पेशल ट्रेनों को चलाने का एलान किया थो वो ट्रेनें रात बारह बजे के बाद से ही चलनी शुरू हो गई हैं. रेलवे के मुताबिक पहले दिन 200 स्पेशल ट्रेनों से करीब एक लाख 45 हजार यात्री सफर करेंगे. अगर पूरे महीने यानी 30 जून तक की बात करें तो अब तक 26 लाख लोग टिकटों की एडवांस बुकिंग करा चुके हैं!


कोरोना की वजह से अभी तक सिर्फ मालगाड़ी, श्रमिक ट्रेनें और 15 रूट्स पर 30 स्पेशल एसी ट्रेनें ही चलाई जा रही थीं. श्रमिक ट्रेनों का मकसद तो मजदूरों को घर पहुंचाना है लेकिन 12 मई से जो स्पेशल ट्रेनें चल रही हैं, उसका किराया राजधानी ट्रेनों के बराबर होने से ये आम लोगों के पहुंच से दूर थीं, अब जब भारतीय रेल ने एसी, नॉन-एसी क्लास और जनरल क्लास वाली 200 ट्रेनों को चलाने का फैसला किया है तो गरीब और मध्यवर्गीय परिवारों को भी अपने गंतव्य तक पहुंचने में आसानी होगी!


विवादित नक्शे को लेकर विधेयक पास

नई दिल्ली। नेपाली संसद में विवादित नए नक्शे को लेकर संशोधन विधेयक पेश किया गया है। नए नक्शे में भारत के कुछ हिस्से को नेपाल का हिस्सा दिखाया गया था। दरअसल, हाल ही में नेपाल की कैबिनेट ने उस मैप को मंजूरी दी थी जिसमें भारत के कुछ हिस्सों को अपना बताया गया था। लेकिन बाद में नेपाल ने अपने नए मानचित्र को लेकर आगे का प्लान टाल दिया था।


नेपाल के नए मैप पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई थी। भारत ने कहा था कि कृत्रिम तरीके से बढ़ाई जमीन को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। दरअसल, मैप में लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा को नेपाल ने अपना बताया है। लिपुलेख दर्रा नेपाल और भारत के बीच विवादित सीमा, कालापानी के पास एक दूरस्थ पश्चिमी स्थान है।भारत और नेपाल दोनों कालापानी को अपनी सीमा का अभिन्न हिस्सा बताते हैं. भारत उसे उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले का हिस्सा बताता है और नेपाल इसे धारचुला जिले का हिस्सा बताता है।


भारत का बयान


विदेश मंत्रालय प्रवक्ता ने पिछले दिनों कहा, ”नेपाल इस मामले पर भारत की तरफ से लगातार बताए जाते रहे मत से वाकिफ है. ऐसे में हम नेपाल सरकार से आग्रह करते हैं कि वो नक्शों के जरिए भारत की संप्रभुता और अक्षुण्णता पर दबाव बनाने का प्रयास न करे.” भारत ने उम्मीद जताई कि नेपाल का राजनीतिक नेतृत्व एक सकारात्मक वातावरण बनाएगा जिससे सीमा विवाद को सुलझाने में मदद मिलेगी


भारत-चीन की सेनाऐं आमने-सामने डटी

नई दिल्ली।एलएसी के आसपास भारत और चीन की सेनाएं अपने-अपने मोर्चे पर डटी हैं। चीनी पक्ष की ओर से किसी प्रकार की नरमी के संकेत नहीं हैं और वहां की सेना लगातार अपनी मौजूदगी बढ़ा रही है। भारतीय क्षेत्र से सटे इलाकों में चीनी सैनिक अर्टिलरी और आर्मर्ड यूनिट तैनात कर रहे हैं. ये वो इलाके हैं जहां से भारतीय सीमा की दूरी महज कुछ घंटे में तय की जा सकती है। हाल के दिनों में दोनों देशों की सेनाएं कई बार आमने-सामने आ चुकी हैं। एलएसी पर दोनों देशों की सेना अपना मोर्चा संभाले हुए है। सूत्रों के मुताबिक कई मौके आए जब सेनाएं एक दूसरे के सामने आईं। खासकर फिंगर फोर का इलाका जहां बड़ी संख्या में चीनी सैनिक जुट गए और उस पूरे इलाके पर अपना दावा करने लगे. वहां की सड़क और झील का इस्तेमाल करते हुए चीन ने अपनी सेना उस इलाके में भेजी है।


 सूत्रों के मुताबिक दोनों ओर से कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन नतीजा कुछ नहीं निकला. यहां तक कि दोनों देशों में कमांडिंग ऑफिसर और ब्रिगेड स्तर के अधिकारियों के बीच बात हो चुकी है. इस विवाद पर मई के पहले हफ्ते से वार्ता चल रही है. आगे इस हालात का समाधान निकालने के लिए मेजर जनरल स्तर की वार्ता होने वाली है. एक सूत्र ने कहा, ऐसा लगता है कि चीनी सेना जानबूझ कर बातचीत टाल रही है ताकि उस इलाके में जमावड़ा लगाने का ज्यादा वक्त मिले. चीनी सेना ने उस पूरे इलाके में अर्टिलरी और आर्मर्ड यूनिट तैनात की है।

सूत्रों ने कहा कि चीन के जवाब में भारत ने भी अपनी फौज लगाई है. लद्दाख सेक्टर के कई इलाकों में ऊंचाई पर सैनिकों की तैनाती की गई है. चीन के 5 हजार सैनिकों के जवाब में भारत ने भी अपनी फौज खड़ी की है. सूत्रों का कहना है कि जिन-जिन इलाकों में चीनी सैनिक घुसे हैं, उनके सामने भारतीय फौज डटी है और उन्हें किसी भी दिशा में मूव करने से रोका जा रहा है। भारतीय सीमा में घुसने की उन्हें कोई इजाजत नहीं है।


लद्दाख क्षेत्र में चीन की मंशा बड़े स्तर पर घुसपैठ करने की थी, लेकिन भारतीय फौज ने उनके इरादे पर पानी फेर दिया. चीनी सैनिकों के जवाब में भारत ने भी अपनी सेना खड़ी की. हालांकि सूत्रों का कहना है कि चीनी सैनिक अभी पीछे हटने के मूड में नहीं हैं और भारत के विरोध के बावजूद वे डटे रहना चाहते हैं. हाल की बातचीत में चीन ने लद्दाख सेक्टर में सैन्य जमावड़े का विरोध किया है, खासकर डीबीओ सेक्टर में. यह सेक्टर काराकोरम सेक्टर के नजदीक पड़ता है जहां से भारत और चीन के बीच एलएसी की शुरुआत होती है।


2 राज्यों को प्रभावित करेगा 'तूफान'

नई दिल्ली। चक्रवाती तूफान अम्फान की तबाही के बाद एक और तूफान का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 24 घंटे में गुजरात और महाराष्ट्र में चक्रवाती तूफान तबाही मचा सकता है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (INDIA METEOROLOGICAL DEPARTMENT) ने बताया कि उत्तरी और दक्षिणी गुजरात तटों के पास अरब सागर में बन रहा कम दबाव का क्षेत्र आगे और मजबूत होकर चक्रवाती तूफान में तब्दील हो सकता है। यह 3 जून तक दक्षिणी गुजरात तटों तक पहुंचकर तबाही मचा सकता है। मौसम विभाग ने गोवा, महाराष्ट्र और गुजरात के लिए रेड अलर्ट जारी किया है।


मौसम विभाग ने अलर्ट जारी करते हुए अरब सागर में गए मछुआरों को वापस बुला लिया है। साथ ही 4 जून तक मछुआरों को सागर से दूर रहने को कहा है। मौसम विज्ञान विभाग ने उत्तरी और दक्षिणी गुजरात तटों के सभी बंदरगाहों पर चक्रवात की चेतावनी के संकेत देने का परामर्श दिया है क्योंकि समुद्र में 4 जून तक स्थिति अत्यंत खराब रहने की संभावना है। तूफान के दौरान 90 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं जिनकी गति 110 किलोमीटर प्रति घंटे तक भी पहुंच सकती है। इस दौरान समुद्र की स्थिति बहुत अधिक खराब रह सकती है।


लॉक डाउन में अनलॉक 0.1 में काफी छूट

नई दिल्ली। देश में कोरोना संकट से निपटने के लिए लागू लॉकडाउन 5.0 का आज पहला दिन है। गृह मंत्रालय के दिशानिर्देश सोमवार 1 जून से पूरे देश में लागू हो गए हैं जो 30 जून तक जारी रहेंगे। लॉकडाउन पांच को अनलॉक-1 नाम दिया गया है. बहरहाल, नए दिशानिर्देशों के मुताबिक केंद्र सरकार ने 1 जून से लॉकडाउन में काफी हद तक ढील दी है। गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस के बाद कई राज्यों ने दूसरे राज्यों से आने-जाने वाले लोगों के लिए सीमा खोल दी है और इंटर-स्टेट परिवहन को मंजूरी दी है।


उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि अंतरराज्यीय यात्रा पर कोई प्रतिबंध नहीं है, लेकिन दिल्ली से सटे लोगों की आवाजाही पर फैसला गाजियाबाद और नोएडा के जिला प्रशासनों पर छोड़ दिया गया है। हालांकि राज्य ने अपनी अंतरराज्यीय बस सेवा को फिर से शुरू नहीं किया है। वहीं कर्नाटक सरकार ने कंटेनमेंट जोन को छोड़कर लॉकडाउन में छूट देने का रास्ता साफ करते हुए राज्य के अंदर और अंतरराज्यीय आवाजाही पर लगी रोक हटा दी। वहीं हालांकि लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने इसकी मंजूरी नहीं दी है. जबकि उत्तर-पूर्व के कुछ राज्यों ने 31 मई के बाद भी अंतरराज्यीय यात्रा पर प्रतिबंध जारी रखने का फैसला किया है।


भारतीय रेलवे 1 जून से 200 पैसेंजर ट्रेनों का परिचालन शुरू करने जा रहा है. इन ट्रेनों में सफर करने के लिए 21 मई से ही टिकटों की बुकिंग शुरू हो चुकी है. रेलवे ने सभी स्पेशल ट्रेनों के लिए अग्रिम आरक्षण की अवधि (ARP) को 30 दिन से बढ़ाकर 120 दिन कर दिया है. इनमें 12 मई से चल रही 15 जोड़ी राजधानी स्पेशल ट्रेनें और एक जून से चलने जा रहीं 100 जोड़ी यानी 200 नई ट्रेनें भी शामिल हैं. रेलवे के मुताबिक इन सभी 230 ट्रेनों में पार्सल और सामान की बुकिंग की अनुमति होगी।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


जून 02, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-294 (साल-01)
2. रविवार, जूूून 02, 2020
3. शक-1943, ज्येठ, शुक्ल-पक्ष, तिथि- एकादशी, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:39,सूर्यास्त 07:18।


5. न्‍यूनतम तापमान 21+ डी.सै.,अधिकतम-39+ डी.सै.।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...