गुरुवार, 10 अगस्त 2023

नातिन की हत्या, नाना को आजीवन कारावास

नातिन की हत्या, नाना को आजीवन कारावास 

मनोज सिंह ठाकुर 
गुना। चतुर्थ एडीजे मोनिका आध्या के न्यायालय ने नातिन की हत्या करने वाले नाना को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। इसके साथ ही आठ हजार रुपये का अर्थदंड लगाया है। खास बात यह कि हत्या की वजह नातिन द्वारा तंबाकू लाने से मना करना थी। सहायक मीडिया प्रभारी एडीपीओ राघौगढ़ मयंक भारद्वाज ने बताया कि 30 सितंबर 2022 को फरियादी देवीलाल पुत्र फुदीलाल सहरिया ने बड़े भाई जय सिंह के साथ थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें कहा कि वह ग्राम छतरपुरा का रहने वाला है और मजदूरी करता है। 
उसके दो बेटे औ एक बेटी है। वह अपनी पत्नी फूलवती के साथ मजदूरी करने गए थे। शाम पांच बजे जब घर आया, तो उसकी बेटी किरण उम्र आठ साल नहीं मिली। इस पर बड़े भाई जय सिंह, छोटे भाई दयाराम तथा स्वजनों के साथ किरण को ढूंढने लगे। उसके भाई जय सिंह ने मंदिर के पुजारी बाबूलाल से पूछा, तो महाराज ने बताया कि किरण दोपहर तीन बजे पानी भरने आई थी। इस समय उसका नाना मुन्ना डुकरा उसे अपने साथ ले गया था।
इस पर उन्होंने मुन्ना की तलाश की, तो वह परांठ तरफ पैदल जाता मिला। किरण के बारे में पूछने पर उसने कुछ नहीं बताया। इस पर पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर विवेचना शुरू की। इस दौरान अभियुक्त मुन्ना सहरिया से पूछताछ कर धारा-27 साक्ष्य विधान का मेमो लिया गया। उसने बताया कि वह अपनी नातिन किरण को मंदिर के पास से घर ले गया था तथा दुकान से तंबाकू लाने का बोला था, जिस पर उसने मना कर दिया था। 
इसके चलते उसकी कुल्हाड़ी से हत्या कर लाश को भूसे में छिपा दिया। 
इसके बाद अभियुक्त की निशानदेही से मृतका का शव बरामद कर सफीना फार्म, नक्शा पंचायत नामा की कार्रवाई एवं पीएम कराया गया। संपूर्ण विवेचना उपरांत अभियुक्त पत्र न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। उक्त प्रकरण में डीपीओ हजारीलाल बैरवा के मार्गदर्शन में पैरवी एडीपीओ राजेश सिंह द्वारा की गई।

अल्पसंख्यकों पर जुल्म होता है, मुंह नहीं खुलता

अल्पसंख्यकों पर जुल्म होता है, मुंह नहीं खुलता 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने बृहस्पतिवार को लोकसभा में भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि एक तरफ ‘चौकीदार’ है और दूसरी तरफ ‘दुकानदार’ है, लेकिन जब अल्पसंख्यकों पर जुल्म होता है, तो किसी का मुंह नहीं खुलता। 

सदन में अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा भाग लेते हुए उन्होंने यह भी कहा कि अगर इन लोग जुल्म के खिलाफ नहीं बोले तो ‘दुकानदारी’ बंद हो जाएगी, ‘चौकीदार’ बदल जाएगा और देश को तीसरा मोर्चा मिलेगा। उनका यह भी कहना था, ‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को चर्चा का जवाब देते हुए यह स्पष्ट करना चाहिए कि देश बड़ा है या फिर हिंदुत्व और (संघ विचारक) गोलवलकर की विचारधारा बड़ी है?’’ 

ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी का परोक्ष रूप से उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘इस देश में दो मोर्चे हैं। एक चौकीदार है और एक दुकानदार है। जब हम पर जुल्म होता है तो कोई मुंह नहीं खोलता। गृह मंत्री अमित शाह यूएपीए कानून लेकर आए तो इन दुकानदारों ने समर्थन किया।’’ ओवैसी ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले लोकसभा चुनाव से पहले ट्विटर पर अपने नाम के आगे ‘चौकीदार’ लगाया था। 

राहुल गांधी ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के दौरान ‘नफरत के बाजार में मोहब्बत की दुकान’ खोलने का नारा दिया था। हैदराबाद से लोकसभा सदस्य ने कहा, ‘‘दुकानदार और चौकीदार हमारी लाशों पर कब तक सियासत करेंगे? अगर आप जुल्म के खिलाफ आवाज नहीं उठाएंगे तो दुकानदारी नहीं चलेगी, चौकीदार बदल जाएगा, तीसरा मोर्चा चलेगा।’’

उन्होंने ट्रेन में एक पुलिसकर्मी द्वारा चार लोगों की हत्या की घटना और हरियाणा की हिंसा का उल्लेख करते हुए कहा कि सरकार को बहुसंख्यक समुदाय से जुड़े कट्टरपंथ पर ध्यान देना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘इस सरकार का जमीर कहां गया था जब नूंह में सैकड़ों इमारत को ढहा दिया गया और कोई कानूनी प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया...हिंदुस्तान में नफरत का माहौल पैदा किया गया है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘क्य बिलकीस बानो इस देश की बेटी नहीं है...कातिलों को रिहा कर दिया गया। क्या यह आपका जमीर है?’’ 

ओवैसी ने ज्ञानवापी मामले का परोक्ष उल्लेख करते हुए कहा, ‘‘तारीख के जख्मों को नहीं कुरेदा जाना चाहिए...सरकार को उच्चतम न्यायालय में स्पष्ट करना चाहिए कि वह 1991 के उपासना स्थल अधिनियम पर कायम है।’’ एआईएमआईए के शीर्ष नेता ने समान नागरिक संहिता से जुड़ी बहस को लेकर कहा, ‘‘भारत एक गुलदस्ता है। देश में एक मजहब, एक संस्कृति, एक भाषा की बात की जा रही है। ऐसा तो तानाशाही में होता है।’’

ओवैसी ने कहा कि भाजपा पसमांदा मुसलमानों की बात करती है, लेकिन इस सरकार में एक भी मुसलमान मंत्री नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया कि इस सरकार में अल्पसंख्यक कल्याण का बजट 40 प्रतिशत कम कर दिया गया। चर्चा में भाग लेते हुए राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के प्रिंस राज ने कहा कि विपक्ष को बताना चाहिए कि उनका मुखिया कौन है। 

उन्होंने कहा, ‘‘विपक्ष की स्थिति एक अनार, सौ बीमार वाली है।’’ राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के हनुमान बेनीवाल ने राजस्थान और कुछ अन्य राज्यों में महिला विरोधी अपराध की घटनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि कड़े कानून बनाने के साथ अपराधियों में खौफ पैदा करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती से जुड़ी ‘अग्निपथ’ योजना को वापस लिया जाए। 

बदलाव: अंजू है परेशान, आना चाहती 'हिंदुस्तान'

बदलाव: अंजू है परेशान, आना चाहती 'हिंदुस्तान'    

अखिलेश पांडेय 

इस्लामाबाद। भारत से वीजा लेकर पाकिस्तान जाने वाली अंजू एक बार फिर वापस लौटना चाहती है। भारत की अंजू खैबर पख्तूनख्वा के अपने फेसबुक फ्रेंड से मिलने के लिए गई थी। शुरुआत में वह कह रही थी कि वह यहां सिर्फ घूमने के लिए आई है। लेकिन बाद में ऐसी तस्वीरें सामने आईं, जिनसे यह साफ हो गया कि उसने नसरुल्लाह के साथ निकाह कर लिया है। इसके अलावा अंजू ने अपना धर्म परिवर्तन कर लिया है। लेकिन अब अंजू ने कहा है कि वह दुखी है।

BBC पाकिस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक अंजू ने कहा, ‘यहां (पाकिस्तान) सारी चीजें पॉजिटिव हैं। मैं यहां किसी और प्लानिंग से आई थी। लेकिन मैंने जो सोचा था, उसकी जगह कुछ और हो गया। कुछ न कुछ हमसे भी मिस्टेक हो गई। क्योंकि यहां जो कुछ हुआ है उसकी वजह से वहां (भारत में) मेरी फैमिली को बहुत जलील किया गया है। यह सब मेरी वजह से हुआ है, जिसके कारण में बेहद दुखी हूं। और दूसरी बात कि बच्चों के मन में भी क्या इमेज बनी होगी मेरे लिए।’

अंजू ने आगे कहा, ‘मैं कैसे भी करके चाहती हूं कि मैं भारत जाऊं और मैं वहां जा सकती हूं। मैं हर चीज का सामना करना चाहती हूं। मैं वहां की मीडिया को भी जवाब देना चाहती हूं। मेरे पास उनके सभी सवालों के जवाब हैं। मैं उन्हें बताउंगी कि मेरे साथ कोई जबरदस्ती नहीं की गई है। मुझे बहुत अच्छे से रखा गया। यह सबकुछ मेरा अपना फैसला था। बस मैं मीडिया के प्रेशर से जल्दी वापस नहीं जा पाई हूं। मैं जाना चाहती हूं और एक बार बच्चों से मिलना चाहती हूं। क्योंकि मैं उन्हें दिन रात याद कर रही हूं।’

ऐसी रिपोर्ट्स आ रही थीं कि पाकिस्तान ने अंजू का वीजा बढ़ा दिया है। लेकिन अंजू के पाकिस्तानी आशिक नसरुल्लाह ने इसकी सच्चाई बताई है। रिपोर्ट के मुताबिक नसरुल्लाह ने कहा कि उन्होंने वीजा बढ़ाने को लेकर आवेदन किया है। लेकिन अभी तक वीजा नहीं बढ़ा है। इसके अलावा अपर दीर की पुलिस ने भी कहा है कि उनके पास अभी तक ऐसा कोई डॉक्यूमेंट नहीं है, जो यह बता सके कि अंजू का वीजा बढ़ा दिया गया है।

विपक्षी गठबंधन की बैठक में भाग लेंगे जयंत

विपक्षी गठबंधन की बैठक में भाग लेंगे जयंत   

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष जयंत चौधरी ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह 31 अगस्त और एक सितंबर को मुंबई में होने वाली विपक्षी गठबंधन ‘इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इन्क्लूसिव अलायंस’ (इंडिया) की बैठक में भाग लेंगे। चौधरी का यह बयान ऐसे समय आया है, जब दिल्ली सेवा विधेयक पर राज्यसभा में वह शामिल नहीं हुए थे और इसके बाद से उनके भविष्य के कदम के बारे में अटकलों का दौर शुरू हो गया।

‘इंडिया’ गठबंधन के सदस्यों ने विधेयक का एकजुट होकर विरोध किया था। चौधरी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ''मैं निश्चित रूप से मुंबई में इंडिया की बैठक में भाग लूंगा।’’ विपक्षी दल की पिछली बैठक बेंगलुरु में हुई थी जिसमें चौधरी शामिल हुए थे।

आपदा में भी राजनीति के अवसर ढूंढ रही है भाजपा

आपदा में भी राजनीति के अवसर ढूंढ रही है भाजपा 

श्रीराम मौर्य 

शिमला। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सु्क्खू ने गुरुवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) आपदा में भी राजनीति के अवसर ढूंढ रही है। वर्तमान परिस्थितियों में हिमाचल प्रदेश को केंद्र से आर्थिक मदद की आवश्यकता है, लेकिन अभी तक अंतरिम राहत की पहली किस्त भी जारी नहीं हुई है।

सुक्खू ने कहा कि दूसरी केंद्रीय टीम हिमाचल प्रदेश में आपदा से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए दौरे पर है तथा उम्मीद है कि हिमाचल प्रदेश को जल्द ही पहली अंतरिम राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार हिमाचल प्रदेश के अधिकार लेने के लिए निरंतर प्रयास कर रही है। मुख्यमंत्री ने शिमला जिला के अपने प्रवास के तीसरे दिन मुख्यमंत्री ने आज रामपुर विधानसभा क्षेत्र के खड़ाहण में आपदा से हुए नुकसान का जायजा लिया।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रभावितों के साथ मजबूती के साथ खड़ी है और उनकी हरसंभव सहायता करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त मकानों की मरम्मत के लिए एक-एक लाख रुपये मुआवजा प्रदान करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पूरी तरह से क्षतिग्रस्त मकानों की मुआवजा राशि बढ़ाने पर भी विचार कर रही है। उन्होंने आश्वस्त किया कि ग्राम पंचायत खड़ाहण सहित अन्य प्रभावित पंचायतों के संपर्क मार्गों को खोलने के लिए पर्याप्त धनराशि जारी की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आपदा के कारण जिन परिवारों के घर और जमीन पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हुए हैं, उन्हें उचित स्थान पर स्थानांतरित किया जाएगा, ताकि वे अपना घर-परिवार फिर से बसा सकें। उन्होंने कहा कि सीमित साधनों के बावजूद राज्य सरकार आपदा प्रभावित परिवारांे को हरसंभव सहायता प्रदान कर रही है।

सेब बागवानों की मदद के लिए पंचायतों में अस्थाई रास्ते बनाए जा रहे हैं, ताकि सेब समय पर मंडियों तक पहुंच पाएं और बागबानों को आर्थिक नुकसान न झेलना पड़े। उन्होंने दोहराया कि सेब बहुल क्षेत्रों की सड़कें बहाल करना राज्य सरकार की प्राथमिकता है और विभागीय अधिकारी दिन-रात इस कार्य में जुटे हैं।

उन्होंने कहा कि जल्द ही कृषि मंत्री प्रो. चंद्र कुमार भी प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे और आपदा में किसानों को हुए नुकसान का जायजा लेंगे, ताकि प्रभावितों की मदद की जा सके। श्ररी सुक्खू ने कहा कि आपदा प्रभावितों की मदद के लिए राज्य सरकार ने मुआवजा राशि बढ़ाई है। आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त घरों के लिए मुआवजे को दस हजार से बढ़ाकर एक लाख रुपए किया गया है और दुधारू पशु की मृत्यु पर जहां पहले 30 हजार रुपये प्रदान किये जाते थे, उसे बढ़ाकर 55 हजार रुपए किया गया है।

उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश गांवों में बसता है और राज्य सरकार गांव में रहने वाले लोगों की हरसम्भव सहायता कर रही है। जनसेवा की भावना के साथ कार्य कर रही वर्तमान राज्य सरकार सही मायनों में लोगों की सरकार है और प्रदेश सरकार का उद्देश्य प्रत्येक व्यक्ति का भला और ज़रूरत के समय हरसंभव सहायता करना है।

विश्व हिंदू महासंघ की एक बैठक आयोजित की गई

विश्व हिंदू महासंघ की एक बैठक आयोजित की गई  

भानु प्रताप उपाध्याय
शामली। विश्व हिंदू महासंघ भारत की एक आवश्यक बैठक में नंदू प्रसाद, अरविंद कौशिक की अध्यक्षता में व डॉ सुनील कुमार के संचालन में आयोजित की गई। जिसमें राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य शशिकांत सरोहा का फूल मालाओं से स्वागत किया गया और संगठन की मजबूती पर बल दिया गया बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य शशिकांत सरोहा ने कहा विश्व हिंदू महासंघ भारत के राष्ट्रीय अध्यक्ष महंत सुरेंद्रनाथ अवधूत जी के आदर्शों पर चलकर संगठन के प्रत्येक पदाधिकारी गण व प्रत्येक कार्यकर्ता संगठन को मजबूत करें। 
इसलिए राष्ट्रीय अध्यक्ष जी ने 13 अगस्त 2023 सुबह 11 बजे महंत  निवास परिसर ,डेरा जोगियांन निकट श्री कालका जी मंदिर, नई दिल्ली में आवश्यक मीटिंग बुलाई है। जिसमें पूरे भारत के प्रदेश अध्यक्ष वह अन्य पदाधिकारी भाग लेंगे उक्त मीटिंग में महासंघ को ओर अधिक सक्रिय ओर मजबूत बनाने पर चर्चा की जाएगी। संगठन के पदाधिकारियों द्वारा किए गए कार्यों की समीक्षा की जाएगी। सभी पदाधिकारियों से अनुरोध है कि समय पर उपस्थित हो  अवसर पर सुमित कौशिक लोकेश कुमार मांगेराम नामदेव, वरुण शर्मा, विपिन शर्मा ,चंद्रशेखर भारद्वाज ,शिवदत्त शर्मा ,संजय कुमार, विजय पाल सिंह ,संदीप योगी ,धीरज मित्तल ,विनीत शर्मा, राधेश्याम शर्मा आदि उपस्थित थे।

लोनी में जन चौपाल का हुआ सफल आयोजन

लोनी में जन चौपाल का हुआ सफल आयोजन

दीपक राणा   
गाजियाबाद। क्रांति दिवस को राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव के दिशा निर्देश पर लोनी विधानसभा अध्यक्ष दिनेश गुर्जर के नेतृत्व में प्रत्येक सेक्टर स्तर पर जन पंचायत का आयोजन किया। जिसमें सेक्टर प्रभारीयो ने अपने-अपने सेक्टर पर जन पंचायत कर समाजवादी पार्टी की सरकार में हुए काम गिनाए लोनी में सेक्टर प्रभारी संजीदा सैफी ने दर्जनों महिलाओं को इकट्ठा करके विकास कार्ये बताए एव कुछ लोगो की समस्या सुनी और उनका निस्तारण के लिए विधानसभा अध्यक्ष को लिखकर दिया। दूसरी तरफ जुबेर चौधरी ने फरुखनगर में जनचोपाल कैंप लगाकर लोगों की समस्याएं सुनी। 
इस्लामुद्दीन सभासद ने दो नंबर कैंप कार्यालय पर दर्जनों की तादात में लोगों को इकटा कर के बड़ी तादात में विकास कार्य गिनवाई। मोमिन खान ने रवि शंकर बाल्मीकि के कैंप कार्यालय पर सेक्टर प्रभारी को इकट्ठा कर बूथ पर काम करने के लिए और किस प्रकार बूथ बनाए जाए। यह बात मोबिन खान ने जन चौपाल में सेक्टर प्रभारियों को समझाई। योगराज बंसल ने चिरोड़ी गांव के अंदर जन चौपाल लगाई गुल्लू प्रधान ने लोनी में जन चौपाल लगाई अनीस अली ने लोनी में जन चौपाल लगाई। कुछ सेक्टर प्रभारियों की मीटिंग में लोनी विधानसभा अध्यक्ष दिनेश गुर्जर ने अपने संबोधन में कहा भाजपा सरकार की कथनी और करनी में फर्क है। भाजपा आज तक समाजवादी पार्टी के कामों के फीते काट रही है और उन्होंने लोनी की समस्या भी बताइए। जिसमें जल निकासी लोनी में बहुत बड़ी समस्या है, लोनी में सपा सरकार बने विद्यालय डिग्री कॉलेज अभी तक चालू नहीं हुए बिल्डिंग बन कर भी जर्जर हो गई। विद्युत की समस्या खंबे एलटी लाइन भी नहीं है सपा सरकार में 100 बेड का अस्पताल स्वीकृत हुआ था, पर भाजपा के आने के बाद 100 बेड के अस्पताल को 50 बेड का अस्पताल भाजपा ने जल्दबाजी में तैयार किया और उसके स्वास्थ्य मंत्री ने इसका उद्घाटन कर दिया। आज ने तो वहां इमरजेंसी चालू है और ना ही दवाइयां उपलब्ध है। 
स्टाफ व्यवहार कुशल भी नहीं है दिल्ली सहारनपुर रोड गड्ढे में तब्दील है‌। परिवहन व्यवस्था नहीं है मेट्रो शिव विहार में आकर रुक गई है इसको आगे नहीं बढ़ाया जा रहा है। राशन कार्ड की समस्या बहुत बड़ी है लोनी में ऐसी अनेकों जन समस्याएं हैं। सपा सरकार में किए कम अभी तक पूरे नहीं किए गए श्री दिनेश गुर्जर ने कहा कि जन-जन तक पहुंच कर सभी की समस्याओं को इकट्ठा कर कर समाजवादी जिला अध्यक्ष एवं महानगर अध्यक्ष एवं पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव जी से विशेष अनुरोध करके उनका निस्तारण करवाएंगे और उन्होंने बताया कि 30 अगस्त को पार्टी के सभी नेता मिलकर डीएम को ज्ञापन भी देगे। इस मौके पर दिनेश गुर्जर लोनी विधानसभा अध्यक्ष अनीस अली निवर्तमान जिला अध्यक्ष मुलायम सिंह यूथ बिग्रेड इस्लामुद्दीन नगर अध्यक्ष सिराज सैफी मोमिन खान संजीदा सैफी एडवोकेट सिमरन सोना खान योगराज बंसल इरशाद प्रधान कमरुद्दीन खान नेहा चांदनी शकील सलीम अभिमन्यु गुर्जर आदेश भाटी इत्यादि लोग शामिल रहे।

कितनी गौशाला है, गौशालाओं का काम ?

कितनी गौशाला है, गौशालाओं का काम ? 

सुरेंद्र कुमार एडवोकेट
गाजियाबाद। जनपद स्थित लोनी में गौशालाओ और पशु चिकित्सालय के होते हुए भी गौवंश बिना इलाज के क्यों मर रहे हैं ? गोधन और सांड हर तिराहे चौराहे पर गौ सेवकों, गौशालाओं तथा नगरपालिका, सरकार के कार प्रबंधन की खिल्ली उड़ाते हुए आए दिन उक्त गौधन और सांड आखिर खुलेआम घूम कर, किसी ना किसी मोटर सड़क दुर्घटना, या किसी मानव के साथ कोई ना कोई जान लेवा हादसा करित कर रहे हैं ?
गौधन, छुट्टा पशुओं और सांड के खुला घूमने के कारण गौ धन/पशुओं के जीवन की सुरक्षा के साथ-साथ मानवीय जीवन के लिए भी संकट है संकटकारी है। आखिर इसके लिए कौन जिम्मेदार है?
शासन-प्रशासन और माननीय जनप्रतिनिधियों /चौकीदारों को इसका संज्ञान लेने की जिम्मेदारी है? गौशालाओ के होते हुए गोधन/छुट्टा पशुओं और सांड खुलेआम घूम रहे हैं, हादसे हो रहे हैं, जन जीवन की मृत्यु हो रही है, मानव जीवन और पशु संसाधनों के लिए जान लेवा संकट हो रहा है?उक्त कारकों का निवारण होना चाहिए? और इनके जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्रवाई/ रिपोर्ट दर्ज कर सुनिश्चित की जानी चाहिए?
आखिर गोसेवक /गौशालाओं के नाम पर कब तक सरकारी धन संसाधनों की लूट का भ्रष्टाचार/ धंधा चलेगा? आम आदमी की भावनाओं को कब तक धर्मांध भ्रष्टाचार की आग में छुपाकर गोधन, पशुधन और मानव जीवन के लिए संकट पैदा किए जाते रहेंगे? शासन-प्रशासन इसका संज्ञान लेकर, जिम्मेदारी जवाबदेही और उत्तरदायित्व सुनिश्चित करें? और जिम्मेदार लोगों के प्रति के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई आदेश/निर्देश सुनिश्चित करें?

लाइलाज रोग के जैसे बन गए सड़कों के गड्ढे

लाइलाज रोग के जैसे बन गए सड़कों के गड्ढे   

इकबाल अंसारी    
गाजियाबाद। राष्ट्रीय राजमार्ग और अंतर्राज्यीय राजमार्ग के निर्माण का दम भरने वाली भाजपा सरकार दर्पण देखने से डरती है। एक तरफ राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका सुगम और सरल परिवहन की कहते हैं। दूसरी तरफ राज्य मार्ग की दुर्दशा सुध भी नहीं लेते है। 
जानकारी के अनुसार दिल्ली-सहारनपुर अंतर्राज्यीय राजमार्ग का कुछ हिस्सा जनता को लाभ प्रदान करने में सहायक सिद्ध हो रहा है। वहीं, कुछ हिस्सा जनता को नरकीय जीवन जीने के लिए विवश कर रहा है। जी हां, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के गोकुलपुरी के बाद जैसे ही आप उत्तर प्रदेश के जनपद गाजियाबाद की विधानसभा लोनी में प्रवेश करते हैं तो अनायास ही आप स्वयं प्रतीक कर लेंगे कि आप अपने क्षेत्र में आ गए हैं। ठीक लोनी डिपो के सामने से लेकर इंदिरा पुरी कॉलोनी के सामने तक लगभग 3 किलोमीटर तक सड़क के गड्ढे, गड्ढों में अटके वाहन, खुद ब खुद हालिया स्थिति बयान कर देंगे। 
आपको बताते चलें कि गाजियाबाद लोकसभा क्षेत्र से भाजपा के जनरल वीके सिंह सांसद हैं। जिस विधानसभा क्षेत्र में यह समस्या जनता को पीड़ा प्रदान कर रहीं हैं। वहां से भाजपा के नंदकिशोर गुर्जर विधायक हैं। दोनों जनप्रतिनिधि सत्तारुढ दल भाजपा से ताल्लुक रखते हैं। लेकिन दोनों जनप्रतिनिधियों की उदारता के कारण जनता को अकारण कष्ट सहना पड़ता है। यह समस्या अंतर्राज्यीय राजमार्ग 709 बी से जुड़ी होने के कारण कई जनपदों के लाखों लोग, जिनका आवागमन इसी मार्ग से नियमित रूप से होता है। समस्या से आहत होकर त्राहिमाम, त्राहिमाम करने लगते हैं। इस अंतर्राज्यीय राजमार्ग को पश्चिम उत्तर प्रदेश के कई जनपदों की लाइफ लाइन कहने में भी कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। 
बरसात के समय में मार्ग पर जल एकत्रित हो जाता है, जल जमाव के कारण सड़क पर मौजूद गढ़ों का अनुमान कर पाना बड़ी समस्या बन जाता है। जिसके कारण घंटों जाम की समस्या बनी रहती है, कई वाहन सड़कों पर फंसे खड़े रहते हैं, कई बार कई लोगों को चोटें भी लग जाती है। यह जन समुदाय से जुड़ी गंभीर समस्या बन गई है। इसके निवारण के लिए जिला अधिकारी को स्वत संज्ञान लेने की आवश्यकता है।

जन स्वास्थ्य से खिलवाड़, आखिर जिम्मेदार कौन ?

जन स्वास्थ्य से खिलवाड़, आखिर जिम्मेदार कौन ?   

अश्वनी उपाध्याय   
गाजियाबाद। जनपद में मनको के अभाव में कई हॉस्पिटलों का संचालन किया जा रहा है। झोलाछाप और चिकित्सा शिक्षा योग्यता के विरुद्ध अन्य चिकित्सा पद्धति में चिकित्सा परीक्षण करने वालों की संख्या सैकड़ों के पार है। लेकिन इसके अलावा अल्ट्रासाउंड केंद्रों पर एक बीमार व्यक्ति से कितना भद्दा मजाक किया जाता है, इसका अनुमान लगाना कठिन है ? 
'यूनिवर्सल एक्सप्रेस' के एक ताजा सर्वे में इस बात की पुष्टि होती है। अर्जित जानकारी के अनुसार तहसील लोनी क्षेत्र में लगभग 24 डायग्नोस्टिक एवं अल्ट्रासाउंड केंद्रों का संचालन किया जा रहा है। जिनमें मात्र पांच ऐसे केंद्रों की जानकारी मिली है। जहां पर योग्य चिकित्सकों के द्वारा चिकित्सा परीक्षण किया जाता है। बाकी सभी केंद्रों पर अयोग्य चिकित्सकों अथवा एक साधारण व्यक्ति के द्वारा चिकित्सा परीक्षण किया जाता है। भोली-भाली जनता के स्वास्थ्य से खिलवाड़ और दिनदहाड़े उनके खून-पसीने की कमाई पर डाका डाला जाता है। साधारण व्यक्ति भी यह बात समझने में समर्थ है कि जिस व्यक्ति की शैक्षणिक योग्यता पूर्ण नहीं है। वह उचित चिकित्सा परीक्षण परिणाम सिद्ध कैसे कर पाएगा ? यह एक बड़ा सवाल है। 
प्रशासनिक अमला मौजूद है और जनता का चुनाव में फायदा उठाने वाले रहबर भी है। कई संस्थाएं भी जनता की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं पर कार्य कर रही है। उसके बावजूद जनता के साथ कितना बड़ा धोखा किया जा रहा है ? जो व्यक्ति अल्ट्रासाउंड की स्पेलिंग ठीक से नहीं बता सकता है। वह अल्ट्रासाउंड का विशेषज्ञ बना हुआ है। इस बात की पूरी आशंका रहती है कि परीक्षण परिणाम पूरी तरह अनुचित है। ज्यादातर जनता इस बात से अनभिज्ञ है, लेकिन विभागीय अधिकारी इस बात से अनजान नहीं है। 
सूत्रों की मानें तो यह खेल राजनीतिक संरक्षण के द्वारा संचालित किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग की उदारता सबसे अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है। कर्तव्य निष्ठा को धार पर रखकर यह घटिया खेल खेला जा रहा है। यह भी स्पष्ट किया जाता है कि जल्दी ही दर परत दर इस घटिया खेल का असली चेहरा जनता के सामने होगा। इस खेल के पीछे कौन जिम्मेदार है और किसकी क्या भूमिका है ?

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 


1. अंक-299, (वर्ष-06)

पंजीकरण:- UPHIN/2010/57254

2. शुक्रवार, अगस्त 11, 2023

3. शक-1944, श्रावण, कृष्ण-पक्ष, तिथि-एकादशी, विक्रमी सवंत-2079‌‌। 

4. सूर्योदय प्रातः 05:19, सूर्यास्त: 07:07।

5. न्‍यूनतम तापमान- 22 डी.सै., अधिकतम- 36+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु  (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पंवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

'पीएम' मोदी ने अभिनेत्री रश्मिका की तारीफ की

'पीएम' मोदी ने अभिनेत्री रश्मिका की तारीफ की अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। नेशनल क्रश रश्मिका मंदाना सिर्फ साउथ सिनेमा का ही नहीं, अब ...