सोमवार, 20 जुलाई 2020

पीएम ने लागू किया नया उपभोक्ता कानून

अकाशुं उपाध्याय


नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार ने आज से एक नया कानून लागू कर दिया है। ये खास कानून देश की जनता को और ज्यादा ताकतवर बनाएगी। ग्राहकों के साथ आए दिन होने वाले धोखाधड़ी को रोकने के लिए मोदी सरकार ने उपभोक्ता संरक्षण का नया कानून आज से लागू करने का फैसला किया है। उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम-2019 को 20 जुलाई से लागू करने के लिए अधिसूचना जारी कर दिया गया है। नए कानून ने उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 की जगह ली है।


योजना के सम्बन्ध में केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के सूत्रों का कहना है नया कानून 20 जुलाई यानि आज से लागू माना जाएगा। नया उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम-2019 को सरकार ने अधिसूचित कर दिया है. इस नए कानून के लागू होते ही ग्राहकों के हितों की रक्षा के लिए कई नए नियम लागू हो गए हैं। जो पुराने एक्ट में नहीं थे। खास तौर से पिछले कुछ सालों में आए नए बिजनेस मॉडल्स को भी इसमें शामिल किया गया है।


नए कानून की ये हैं खासियत



  • नए कानून में उपभोक्ताओं को भ्रामक विज्ञापन जारी करने पर भी कार्रवाई की जाएगी।

  • उपभोक्ता देश के किसी भी कंज्यूमर कोर्ट में मामला दर्ज करा सकेगा।

  • नए कानून में Online और Teleshopping कंपनियों को पहली बार शामिल किया गया है।

  • खाने-पीने की चीजों में मिलावट होने पर कंपनियों पर जुर्माना और जेल का प्रावधान।

  • कंज्यूमर मीडिएशन सेल का गठन. दोनों पक्ष आपसी सहमति से मीडिएशन सेल जा सकेंगे।

  • PIL या जनहित याचिका अब कंज्यूमर फोरम में फाइल की जा सकेगी. पहले के कानून में ऐसा नहीं था।

  • कंज्यूमर फोरम में एक करोड़ रुपये तक के केस दाखिल हो पाएंगे।

  • स्टेट कंज्यूमर डिस्प्यूट रिड्रेसल कमीशन में एक करोड़ से दस करोड़ रुपये तक के केसों की सुनवाई होगी।

  • नेशनल कंज्यूमर डिस्प्यूट रिड्रेसल कमीशन में दस करोड़ रुपये से ऊपर केसों की सुनवाई।


 


जापान में गाइडलाइन्स की बहुत जरूरत

तोक्यो। जापान में नाइट लाइफ़ वर्कर्स के लिए काम करने वालों ने कहा है कि इनके लिए ऐसी गाइडलाइन्स की ज़रूरत है जिनसे सुरक्षित भी रहा जा सके और ये अपना काम भी कर सकें। जापान सरकार ने बार में होस्ट और होस्टेस की सर्विस रोक दी थी। जापान में संक्रमण फैलाने के अड्डे के तौर पर देखा जा रहा है। यूरोलॉजिस्ट और पब्लिक हेल्थ वकील शिन्या ल्वामुरो ने कहा कि बारकर्मियों के लिए व्यावहारिक नियम बनना चाहिए और उन्हें बताना चाहिए कि ग्राहकों से कैसे बात करनी है। उन्होंने कहा, ‘’इसका मतलब यह हुआ कि किसिंग नहीं होनी चाहिए और प्लेट भी एक दूसरे से साझा करने पर पाबंदी लगनी चाहिए। इसके अलावा बातचीत का एंगल भी ऐसा होना चाहिए जिससे संक्रमण फैलाने वाले ड्रॉपलेट्स से बचा जा सके। जहां तक संभव हो किस केवल पार्टनर के साथ ही हो और गहरे चुंबन से बचना चाहिए। ल्वामुरो नाइटस्पॉट में टीचिंग इन्फेक्शन कंट्रोल के भी प्रमुख हैं। उन्होंने किस करने और संक्रमण से बचने के तरीक़े एक न्यूज़ कॉन्फ्रेंस में बताए। नाइटलाइफ़ से जुड़े जो लोग जापान में संक्रमित हो रहे हैं उनकी उम्र 20 से 30 के बीच है। जापान में नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ इन्फेक्शन डिज़ीज में वायरोलॉजी के निदेशक मासायुकी साइजो ने कहा है कि महामारी के कारण कौन क्या काम करता है और कब करता है इस आधार पर भेदभाव नहीं किया जाा सकता। उन्होंने कहा, ‘’रात और दिन में काम करने में कोई फ़र्क़ नहीं है। हमारी रणनीति ये होनी चाहिए कि इंसान से इंसान में संक्रमण को फैलने से कैसे रोका जाए। नाइटलाइफ़ बिज़नेस एसोसिएशन की रिप्रेजेंटेटिव डायरेक्टर काओरी खोगा ने कहा कि उन्होंने नाइटलाइफ़ वर्कर्स के लिए गाइडलाइन ख़ुद से बनाई है। इनमें म्यूज़िक सुनने वाले माइक्रोफ़ोन को डिसइन्फेक्ट करना भी शामिल है। 


शिवांशु 'निर्भयपुत्र'       


रायपुरः पहली बार तराजू पर आया गोबर

रायपुर। मुख्यमंत्री निवास में अभनपुर से आए इन किसानों ने ‘गोधन न्याय योजना‘ प्रारंभ करने के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि यह योजना किसानों और छोटे पशुपालकों के लिए बहुत अच्छी योजना है। चक्रधारी ने बताया कि उनके पास पांच मवेशी है। हर रोज लगभग एक झउहा 20 किलो तक गोबर निकलता था, जो कचरे में जाता था। अब इसकी बिक्री होने से हम जैसे हजारों लोगों को इसका लाभ मिलेगा।  


मुख्यमंत्री निवास में पारंपरिक रीति-रिवाज के साथ हरेली का त्यौहार मनाया गया। हरेली पर्व में परंपरा है कि किसान और उनके परिवार की महिलाएं अपने खेत और बाड़ी की सब्जियां अपने सियान लोगों को भेंट करते हैं। जय धरती मां महिला स्व-सहायता समूह की अध्यक्ष दुर्गा बाई चक्रधारी सहित लक्ष्मी धु्रव, आरती साहू सहित समूह की महिलाओं ने मुख्यमंत्री बघेल को सब्जियां भेंट की। लौकी, रमकेलिया, कोहड़ा, बरबट्टी, करेला, तरोई सहित चेचभाजी, पटवा भाजी, अमारी भाजी का गुलदस्ता बनाकर भेंट किए। महिलाओं ने उनकी बाड़ी के भुट्टे भी मुख्यमंत्री को भेंट किए।मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने हरेली पर्व पर आज यहां अपने निवास में चार किसानों से 48 किलो गोबर की खरीदी की और किसानों को दो रूपए के हिसाब से 96 रूपए का भुगतान कर गोधन न्याय योजना की प्रदेशव्यापी शुरूआत की। ये किसान रायपुर जिले के अभनपुर विकासखण्ड के ग्राम नवागांव से आए थे।


मुख्यमंत्री ने नवागांव गौठान समिति के जय छत्तीसगढ़ महिला स्व-सहायता समूह के लिए नवागांव के कृष्ण कुमार चक्रधारी, पीलू राम ध्रुव, सेवक राम साहू और शिव नारायण साहू से गोबर खरीदा। मुख्यमंत्री ने स्वयं गौठान समिति के रजिस्टर में गोबर खरीदी की मात्रा भी दर्ज की और गोबर विक्रेता किसानों को गोबर बिक्री का कार्ड भेंट किया। विक्रेता किसानों को दिए गए कार्ड में उनके द्वारा रोज बेचे जाने वाले गोबर की मात्रा दर्ज की जाएगी।


छत्तीसगढ़ के लोक कलाकारों, लोक नर्तकों, लोक गायकों ने पारंपरिक वेशभूषा में वाद्य यंत्रों एवं साज सज्जा के साथ प्रस्तुति दी। हरेली के दिन मुख्यमंत्री निवास में बांस गीत भी गूंजा। गरियाबंद जिले से बांस गीत कलाकारों को विशेष तौर पर बुलाया गया है। बांस गीत की प्रस्तुति लत्ती यादव और साथी कलाकार ने दी।  छत्तीसगढ़ की परम्परा के अनुरूप हरेली पर्व पर घर के पशुओं गाय, बैल को निरोगी रखने के लिए जड़ी-बूटी के साथ लोंदी खिलाई जाती है। हरेली के दिन घरों में गुलगुला भजिया और गुरहा चील विशेष रूप से तैयार किया जाता है। यादव समाज के लोग इस दिन गांव में घूम कर घरों में लोगों को बीमारियों से रक्षा के लिए घरों के दरवाजे पर नीम की डाली लगाते हैं। लोहार समाज के लोग अनेक प्रकार के कृषि यंत्र बनाते हैं। गांव की जरूरत के मुताबिक कृषि में उपयोग में आने वाले यंत्र इनके द्वारा ही बनाए जाते हैं। लोक और सामाजिक परम्परा के अनुरूप लोहार समाज के लोग अनिष्ट से रक्षा के लिए घरों में कील ठोंकते हैं।              


यूके में फटा बादल, 3 की मौत 9 लापता

कमलेश निषाद


पिथौरागढ़। बादल फटने से तीन लोगों की मौत हो गई है और 9 लोग लापता हैं। मौसम विभाग की मानें तो यहां अगले दो दिनों तक भारी बारिश परेशानी का सबब बन सकती है। मामला उत्तराखंड के पिथौरागढ़ का है।


रविवार की रात हुई भारी बारिश के बाद यहां मुनस्यारी के टागा गांव और बंगापानी के गेला गांव मे बादल फटने से तबाही मच गई। कई घर देखते ही देखते जमींदोज हो गए। गेला गांव में 3 लोगों के घर के मलबे में दबने से मौत हो गई वहीं, यहां 3 अन्य घायल हो गए। इसके अलावा टागा में 9 लोग लापता हैं और एक व्यक्ति घायल के घायल होने की खबर है। बादल फटने के बाद रास्ते के बह जाने से यहां के लोग गांव में ही फंस गए हैं। उनके बाहर किसी भी इलाके से जुड़ने का कोई रास्ता नहीं बचा है।घटना के बाद राहत-बचाव कार्य टीम को घटनास्थल के लिए रवाना कर दिया गया है। उत्तराखंड के अलावा हिमाचल में भी भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।


वायरस से 12 देश अभी भी सुरक्षित है

नई दिल्ली। चीन के वुहान शहर से पिछले साल के आखिर में फैले कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है। आज के वक्त में दुनियाभर में इस बीमारी के 52 लाख से अधिक एक्टिव केस हैं। 7 महीने से अधिक वक्त से दुनिया इस महामारी से जूझ रही है और इससे राहत मिलने की फिलहाल उम्मीद किसी को नहीं है। यहां तक कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के एक्सपर्ट अगले महीने से दुनिया में इस वायरस के संक्रमण की दूसरी लहर की आशंका जता रहे हैं।


वर्ल्ड मीटर के आंकड़ों के मुताबिक दुनियाभर के 215 देश और स्वतंत्र द्वीप इस वायरस के संक्रमण से जूझ रहे हैं। अबतक 6 लाख से अधिक लोगों की इसके संक्रमण के कारण जान जा चुकी है और अब तक 1 करोड़ 44 लाख से अधिक केस सामने आ चुके हैं। कोरोना वायरस के रोज दुनिया भर में 2 लाख 40 हजार से अधिक केस सामने आ रहे हैं और 5 हजार से अधिक मौतें हो रही हैं। अमेरिका-ब्राजील और भारत में सबसे तेजी से ये वायरस फैल रहा है। भारत में 11 लाख से अधिक केस सामने आ चुके हैं। अमेरिका में तो ये आंकड़ा 38 लाख और ब्राजील में 20 लाख से भी ऊपर है।


ऐसे वक्त में जब पूरी दुनिया पर कोरोना का कहर हावी है ऐसे में कई देश ऐसे भी हैं जहां कोरोना वायरस का एक भी केस सामने नहीं आया है। ये 12 देश कौन हैं और कहां स्थित हैं इसे जानना रोचक होगा.-


1. किरिबाती (Kiribati)


किरिबाती गणराज्य प्रशांत महासागर में स्थित एक द्वीप देश है। यह बिखरे हुए 32 द्वीपों और एक उठे हुए प्रवाल द्वीप से बना देश है। ओशिआनिया क्षेत्र के इस देश की आबादी सिर्फ 1 लाख 10 हजार है। 1979 में यह ब्रिटेन से आजाद हुआ था। 1999 में यह देश संयुक्त राष्ट्र का पूर्ण सदस्य बन गया। इस देश की सीमा किसी भी देश से नहीं लगती लेकिन फिजी, नाउरु, मार्शल आईलैंड इसके करीबी द्वीपसमूह हैं। इन देशों की आबादी मुख्य रूप से समुद्री संसाधनों और पर्यटन पर निर्भर है। अलग भौगोलिक हालात की वजह से कोरोना काल में भी ये देश वायरस के संक्रमण से अबतक मुक्त है।


2. मार्शल आइलैंड्स (Marshall Islands)


मार्शल द्वीपसमूह प्रशांत महासागर के मध्य में स्थित एक माइक्रोनेशियाई राष्ट्र है। इसकी जनसंख्या केवल 58,413 है। यह नाउरु और किरिबाती के उत्तर में स्थित है। यहां कि आधिकारिक मुद्रा अमेरिकी डॉलर है। यहां अंग्रेजी और मार्शलीज भाषा बोली जाती है। ये 29 कोरल और 1156 द्वीपों से मिलकर बना द्वीपसमूह देश है। इसके क्षेत्रफल में सिर्फ 3 फीसदी हिस्सा जमीन का है और सबसे बड़ा शहर माजूरो आईलैंड है।


3. माइक्रोनेशिया (Micronesia)


माइक्रोनेशिया 2100 द्वीपों का एक समूह है। प्रशांत महासागर का ये प्रमुख द्वीपसमूह देश है। यह 2700 वर्ग किलोमीटर इलाके में फैला है. गुआम इसका सबसे बड़ा द्वीप है। कैरोलीन आईलैंड, गिलबर्ट आईलैंड, मारियाना आईलैंड खासकर दुनियाभर से प्राकृतिक सौंदर्य देखने आने वाले सैलानियों के लिए बड़ा आकर्षण रहता है।


4. नाउरु (Nauru)


दक्षिणी प्रशांत महासागर के देश नाउरु की आबादी सिर्फ 12,704 है। यह मार्शल आईलैंड के दक्षिण में स्थित है। यह आबादी के हिसाब से तुवालू के बाद दुनिया का दूसरा सबसे छोटा देश है जबकि क्षेत्रफल के हिसाब से मोनाको के बाद दूसरे नंबर पर। प्रशासनिक मामलों में यहां ऑस्ट्रेलिया का अच्छा खासा प्रभाव है। यहां की करेंसी भी ऑस्ट्रेलियन डॉलर है। दूसरे विश्वयुद्ध के बाद नवंबर 1947 में यह संयुक्त राष्ट्र के तहत ट्रस्ट क्षेत्र बना था। आम दिनों में यहां कुछ पर्यटक आते भी हैं लेकिन कोरोना काल में सब बंद है। कोई भी दूसरा देश या द्वीप यहां से कम से कम 200 मील दूर है।


5. उत्तर कोरिया (North Korea)


उत्तर कोरिया में किम जोंग उन का शासन है। इस देश में कोरोना का एक भी केस दर्ज नहीं किया गया है। किम के तानाशाही शासन के कारण उत्तर कोरिया दुनिया के बाकी हिस्सों से कटा हुआ है और कोई भी सूचना बाहर नहीं आ पाती। उत्तर कोरिया से किसी और देश आने-जाने वाले लोगों की तादाद भी नहीं के बराबर है इसलिए भी कोई इस देश के बारे में कुछ जान नहीं पाता। एक तरफ जहां पड़ोसी देश दक्षिण कोरिया में 13 हजार से अधिक कोरोना केस हैं वहीं उत्तर कोरिया में शून्य का आंकड़ा सबको चौंका रहा है।


6. पलाऊ (Palau)


पलाऊ प्रशांत महासागर के इलाके का हिस्सा है। 340 द्वीप इसके हिस्से हैं। उत्तर में इसकी समुद्री सीमा जापान से लगती है जबकि पूर्व में माइक्रोनेशिया, दक्षिण में इंडोनेशिया से और पश्चिम में फिलीपिंस से. यहां की आबादी 17,907 है। 29 नवंबर 1994 को संयुक्त राष्ट्र में यह देश शामिल हुआ।


7. समोआ (Samoa)


दो बड़े द्वीपों को मिलाकर बने देश समोआ की आबादी 1,96,130 है। हवाई द्वीप और न्यूजीलैंड के बीच में यह स्थित है। विंटर वैकेशन के लिए ये आईलैंड खासकर लोगों का पसंदीदा है। ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैंड और अमेरिका में रहने वाले यहां के प्रवासियों के भेजे पैसे से यहां की इकॉनोमी चलती है। कोरोना काल में यहां पर्यटन का काम काफी हद तक बंद हो गया है।


8. सोलोमन आईलैंड (Solomon Islands)


ओशिआनिया क्षेत्र में स्थित सोलोमन आईलैंड 6 बड़े द्वीपों और 900 छोटे द्वीपों को मिलाकर बना है। पापुआ न्यू गिनिया के पूर्व में ये स्थित है। यहां की आबादी 652,858 है। दुनियाभर के पर्यटकों की ये पसंदीदा जगह है लेकिन कोरोना काल में सब बंद है। इस देश में अबतक कोरोना का एक भी केस नहीं आया है, बल्कि देश में कोरोना की एंट्री की बात फेसबुक पर लिखने वाले एक शख्स पर अदालत में अफवाह फैलाने का केस भी चल रहा है।


9. टोंगा (Tonga)


टोंगा गणराज्य 169 द्वीपों को मिलाकर बना देश है। यहां की आबादी 100,651 है. 1970 तक यह ब्रिटिश प्रोटेक्शन में था। लेकिन उसके बाद सिर्फ विदेश मामले ब्रिटेन के पास थे। 2010 में इस देश ने प्रशासनिक बदलाव किए और खुद को पूरी तरह से आजाद घोषित कर दिया। ये देश फिजी के करीब है। साइक्लोन और भीषण तूफान यहां की बड़ी समस्या है। रविवार सुबह टोंगा आईलैंड पर 6.2 तीव्रता का भूकंप भी आया था। लेकिन भौगोलिक रूप से दुनिया के बाकी हिस्सों से कटे होने के कारण टोंगा अभी कोरोना महामारी से पूरी तरह मुक्त है।


10. तुर्कमेनिस्तान (Turkmenistan)


मध्य एशिया का देश तुर्कमेनिस्तान 1991 में सोवियत संघ से अलग होकर स्वतंत्र देश बना था। यहां की आबादी 59 लाख के करीब है। एक तरफ जहां रूस में कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं वहीं ये देश अभी तक कोरोना संक्रमण से मुक्त है। इसके उत्तर पश्चिम में कजाकिस्तान और उत्तर में उजबेकिस्तान स्थित है।


11. तुवालू (Tuvalu)


ओशेनिया क्षेत्र का देश तुवालू कोरोना संक्रमण से अबतक बचा हुआ है। यह हवाई द्वीप और ऑस्ट्रेलिया के रास्ते में स्थित देश है। यहां की आबादी 11,508 है। इसका पूरा क्षेत्रफल 26 वर्ग किलोमीटर है। इसके नजदीकी द्वीप हैं फिजी, सोलोमन आईलैंड, नाउरु, समोवा द्वीप समूह वर्ष 2000 से यह संयुक्त राष्ट्र का सदस्य है. विश्व बैंक और एशियन डेवलपमेंट बैंक का भी ये हिस्सा है।


12. वानूआतू (Vanuatu)


वानूआतू प्रशांत क्षेत्र का एक देश है। 1980 में यह फ्रांस और ब्रिटेन के प्रभाव से आजाद हुआ। संयुक्त राष्ट्र की सदस्यता इसे 1981 में मिली। यहां की आबादी 292,680 है। ऑस्ट्रेलिया, न्यू गिनिया, सोलोमन आईलैंड और फिजी के पास यह स्थित है। दुनियाभर के सैलानियों के बीच यह काफी पॉपुलर है। लेकिन कोरोना काल में उड़ानों के बंद होने से यहां भी आवाजाही बंद है। हालांकि ये देश अबतक कोरोना संक्रमण से मुक्त है।


बाकी दुनिया का क्या है हाल?


इन 12 देशों को छोड़ दें तो दुनिया के बाकी देशों में हालात गंभीर हैं। डब्ल्यूएचओ के एक्सपर्ट दुनियाभर में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की चेतावनी दे रहे हैं। केवल अमेरिका के 50 में से 43 राज्यों में कोरोना के केस तेजी से बढ़ रहे हैं। अमेरिका में हर हफ्ते 5 हजार से अधिक लोगों की वायरस के कारण मौत हो रही है। इटली ब्रिटेन-फ्रांस-स्पेन जैसे यूरोप के देशों में जहां कोरोना की पहली लहर ने कहर बरपाया था वहीं अब ब्राजील, भारत, दक्षिण अफ्रीका और रूस वो देश हैं जहां तेजी से वायरस का प्रसार हो रहा है। यहां तक कि चीन में नए केस फिर से सामने आने लगे हैं।


WHO ने दी ये चेतावनी


WHO प्रमुख टेड्रोस गेब्रेयेसस का कहना है कि महामारी अभी बद से और बदतर होने वाली है। WHO ने चेतावनी देते हुए कहा कि स्थितियां जल्द सामान्य होने वाली नहीं हैं क्योंकि कुछ देश कोरोना वायरस महामारी को रोकने की अपनी जिम्मेदारी सही ढंग से नही निभा रहे हैं। WHO प्रमुख ने कहा कि जो देश लॉकडाउन में ढील दे रहे थे वो अब अपने यहां एक बार फिर वायरस को फैलता देख रहे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि वो इस खतरे को कम करने के लिए किसी भी नियमों का पालन नहीं कर रहे थे।


धरती के नजदीक से गुजरेगा एस्ट्रॉयड

नई दिल्ली। 24 जुलाई को धरती के नजदीक एक विशालकाय एस्टेरॉयड होगा। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने चेतावनी देते हुए कहा कि यह एस्टेरॉयड संभावित रूप से खतरनाक हो सकता है। उसके मुताबिक आकार में भी यह पिछले एस्टेरॉयड की तुलना में काफी बड़ा है। इसकी गति भी तेज है।


वैज्ञानिकों के मुताबिक यह एस्टेरॉयड ब्रिटेन के प्रसिद्ध लैंडमार्क- लंदन आई के आकार का कम से कम डेढ़ गुना बड़ा है। उन्हें यह भी आशंका है कि यह लंदन आई की तुलना में लगभग 50 प्रतिशत बड़ा निकले। लंदन आई 443 मीटर ऊंचा एक व्हील है, वैज्ञानिकों की माने तो इस एस्टेरॉयड के इससे भी बड़ा होने की आशंका है। नेशनल एयरोनॉटिक्स एंड स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन ने इस एस्टेरॉयड को खतरनाक करार दिया है। उसने चेतावनी दी है कि जिस तरह से यह विशाल क्षुद्रग्रह पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है, उसे हल्के में नहीं लिया जा सकता है। इसे संभावित खतरे का आंकलन किया जा रहा है। नासा के मुताबिक यह पृथ्वी के लिए एक खतरनाक प्रभाव पैदा कर सकता है। नासा ने इसे एस्टेरॉयडल 2020ND नाम दिया है।             


सेल्फी लेने के चक्कर में चार युवक डूबे

फर्रुखाबाद। फर्रुखाबाद के गंगा तट पर गंगा स्नान करने आए चार युवक गहरे पानी में सेल्फी लेने के दौरान डूबे। एक को नाविक ने सकुशल बचाया 3 को 3 घंटे के बाद गोताखोरों तथा पुलिस ने बाहर निकाला तीनों की हुई मौत। जनपद शाहजहांपुर से नहाने आए थे चारों युवक।घटना की सूचना पर पांचाल घाट चौकी प्रभारी तथा शहर कोतवाल वेद प्रकाश पांडे सिटी मजिस्ट्रेट आदि पहुंचे।पुलिस ने शव को बाहर निकलवाया।             


"किसान" से रुपए छीनकर, बदमाश फरार

अतुल त्यागी


हापुड़ में बदमाशों के हौसले हुए बुलंद बड़े ही शातिर तरीके से घटना को दिया अंजाम किसान से रुपए छीनकर तमंचा हवा में लहराते हुए बदमाश फरार


हापुड़। मामला जनपद हापुड़ के थाना बाबूगढ़ क्षेत्र का है जहां बदमाशों ने बड़े ही शातिर तरीके से घटना को दिया अंजाम बाइक सवार बदमाशों तमंचे के बल पर किसान से ₹144000 छीन कर तमंचा हवा में लहराते हुए मौके से फरार हुए। किसान से दिनदहाड़े ₹144000 की लूट की खबर से पुलिस महकमे में मचा हड़कंप सूचना मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी पहुंचे मौके पर जांच पड़ताल में जुटे बदमाशों की तलाश में पुलिस जुटी।     


आकाशीय बिजली गिरने से किशोर झुलसे

गिरी आकाशीय बिजली, बालक की मौत और किशोर झुलसा


गाजीपुर। आकाशीय बिजली से जिले में मौतों का सिलसिला जारी है। इसी क्रम में सोमवार की सुबह जमानिया कोतवाली क्षेत्र के रामपुर फुफुआव गांव में आकाशीय बिजली की जद में आने से जहां एक बालक की मौत हो गई, वहीं उसका रिश्तेदार किशोर गंभीर रूप से झुलस गया। झुलसे किशोर को उपचार के लिए जिला अस्पताल लाया गया। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया।
मालूम हो कि रामपुर फुफुआव गांव निवासी शिवमुनी का पुत्र जीतू कुमार (14) अपने रिश्तेदार रामाश्रय (16) के साथ सोमवार की सुबह खेत पर काम कर रहा था। इसी दौरान आकाशीय बिजली गिरी। उसकी जद में आने से जीतू की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि रामाश्रय गंभीर रूप से झुलस गया। घटना की जानकारी होते ही परिवार के साथ ही ग्रामीण दौड़कर मौके पर पहुंचे। मृत जीतू पर नजर पड़ते ही दहाड़े मारकर चीख-पुकार करने लगे। झुलसे किशोर को आनन-फानन में जिला अस्पताल लाया गया। घटना की जानकारी होने पर पुलिस के साथ ही तहसीलदार आलोक कुमार मौके पर पहुंच गए। तहसीलदार ने मृतक के परिजनों से घटना के संबंध में जानकारी ली। इस संबंध में कोतवाली राजीव कुमार सिंह ने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टर्माटम के लिए भेज दिया गया है।             


बायोटेक वैक्सीन के ट्रायल की दी मंजूरी

ढाका। बांग्लादेश ने चीन की सिनोवैक बायोटेक वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल की मंज़ूरी दे दी है। बांग्लादेश दक्षिण एशिया का सबसे ज़्यादा जन घनत्व वाला देश है और यहां कोरोना का संक्रमण तेज़ी से बढ़ रहा है। सिनोवैक चीन से बाहर के लोगों का खोज रहा था ताकि उन पर ट्रायल करके देखा जा सके। बांग्लादेश में सिनोवैक के तीसरे चरण के ट्रायल की पुष्टि कोविड 19 पर बनी एक कमिटी के सदस्य ने भी की है। द इंटरनेशनल सेंटर फोर डिज़ीज रिसर्च बांग्लादेश ने कहा है कि अगले महीने से इसका ट्रायल शुरू होगा। बांग्लादेश मेडिकल रिसर्च काउंसिल के निदेशक महमूद जहान ने समाचार एजेसी रॉयटर्स से कहा, ‘’हमने रिसर्च प्रोटोकॉल की समीक्षा के बाद चीन को सैद्धांतिक रूप से अनुमति दे दी है।4,200 लोग ट्रायल में शामिल होने के लिए आवेदन करेंगे और इनमें से आधे को वैक्सीन दी जाएगी। यह ट्रायल ढाका से सात कोविड 19 अस्पतालों में किया जाएगा। बांग्लादेश में कोरोना के अभी 204,525 मामले हैं और तीन हज़ार के क़रीब लोगों की मौत हुई है। सिनोवैक ब्राज़ील में भी इस हफ़्ते तीसरे चरण का ट्रायल करने जा रहा है।             


वायरसः भारतवासी अधिक सतर्कता बरतें

कविता देवी 


नई दिल्ली। संक्रमित व्यक्ति के खांसने, छींकने या फिर सांस के माध्यम से हवा में वायरस छोड़ने से कोरोना वायरस फैलता है। हवा में तैरते वायरस किसी भी व्यक्ति के शरीर में सीधे या फिर वैसी चीज़ को छूने से, जहाँ विषाणुयक्त कण गिरे हैं, वहाँ से आंख, नाक और मुंह के माध्यम से प्रवेश कर सकते हैं। संक्रमण का बाहर से ज़्यादा जोखिम बंद जगहों पर होता है। ऐसी बंद जगहें जिसमें हवा के आने-जाने की अच्छी व्यवस्था की गई हो, वो संक्रमण के लिहाज़ से कम जोखिम वाली होती हैं। इसलिए सार्वजनिक परिवहनों जिसमें आप खिड़की खोल सकते हैं, वो इस लिहाज़ से थोड़ा बेहतर हैं। ट्रेन और बसों में जोखिम इस बात पर निर्भर करता है कि उसमें कितनी भीड़ है और आप खुद को दूसरों से बस स्टॉप और स्टेशन जैसी जगहों पर कितना दूर रख सकते हैं।             


मृत-6 लाख, संक्रमित 1 करोड़ 44 लाख

कोरोना वायरस के कारण दुनिया भर में अब तक छह लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। एक करोड़ 44 लाख से अधिक लोग इस वायरस से संक्रमित हैं। चीन के वुहान शहर से दिसंबर 2019 से शुरू हुआ कोरोना वायरस संक्रमण अब पूरी दुनिया में फैल चुका है. लेकिन इस वायरस की कोई प्रमाणिक वैक्सीन या दवा अब भी तैयार नहीं की जा सकी है। कोरोना वायरस की 5 हज़ार की जीवन रक्षक दवा रेमडेसिविर 30 हज़ार में मिल रही रूस ने कोरोना वायरस की क्या पहली वैक्सीन बना ली है?
वैक्सीन बनाने की दिशा में चल रहे प्रयासों की बात करें, तो दुनियाभर में कोरोना वायरस की 23 वैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल हो रहे हैं। कुछ देशों में वैक्सीन्स के ह्यूमन ट्रायल पहले और दूसरे चरण में सफल रहे हैं और अब भारत में भी कोवैक्सीन नाम की वैक्सीन का ट्रायल शुरू होने जा रहा है। दिल्ली स्थित ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज़ (एम्स) में सोमवार से ही यह ट्रायल शुरू हो जाएगा। यह ट्रायल 100 स्वस्थ लोगों पर किया जाएगा। जिन पर ट्रायल किया जाएगा उनकी उम्र 18 से 55 साल तक होगी।           


1 दिन में 239 कोरोना केस , टूटा रिकॉर्ड

देहरादून। राजधानी से 19 जुलाई रविवार को स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया हेल्थ बुलेटिन के अनुसार प्रदेश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 4515 पहुंचा । वही जिसमें अच्छी बात यह है कि अब तक उत्तराखंड में 3116 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज किये जा चुके है। जिसमें आज रविवार को 239 मामले सामने आये जिसमंे सूत्रों के अनुसार देहरादून 68, जिसमें 14 एम्स, 10 आर्मी हास्पिटल, 4 एयरपोर्ट से और 5 कपड़ा व्यपारी के परिवार से और 3 हेल्थ वर्कर, एवं ऋषिकेस के 25 के करीब केस सामने आए, वही आज सबसे ज्यादा 150 मामले हरिद्वार में सामने आए हैं। उधमसिंह नगर13, अल्मोड़ा1, टिहरी 3, चमोली1, उत्तरकाशी 5, पौड़ी4, नैनीताल 7, अभी 1311केस एक्टिव है।


वही इसी के साथ अब उत्तराखंड में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 52 पहुंचा है। वही इस दौरान अपर सचिव स्वास्थ्य युगल किशोर पंत ने इसकी पुष्टि की है। वही जिसमें आपको बता दे कि उत्तराखंड में कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए राजधानी देहरादून, हरिद्वार, ऊधमसिंहनगर और नैनिताल में शनिवार, रविवार दो दिन का संपूर्ण लॉकडाउन लगाया गया है। वही इस दौरान जरूरी सेवाओं को छोड़कर बाकी सब कुछ बंद रहेगा. हालांकि, शराब की दुकानों को लॉकडाउन को दूर रखा गया है।


 इसी के साथ वही दुसरी ओर सूत्रों से मिली खबर के अनुसार नैनीताल जिले में बीजेपी के पांच पदाधिकारी कोरोना पॉजीटिव (Corona positive) पाए गए हैं। इसके बाद पूरी बीजेपी में हड़कंप मच गया है। इन पांचों पदाधिकारियों के टच में आने वाला हर नेता तनाव में है। नैनीताल जिले के बीजेपी जिलाध्यक्ष प्रदीप बिष्ट, प्रदेश प्रवक्ता प्रकाश रावत (Prakash Rawat) और इनके संपर्क में आए रामनगर के तीन और बीजेपी कार्यर्ताओं को मिलाकर कुल पांच लोग कोरोना पॉजीटिव निकले हैं।


सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व राष्ट्रीय सचिव प्रकाश जोशी ने बीजेपी पदाधिकारियों पर राजनीतिक कार्यक्रम कर कोरोना फैलाने का आरोप लगाया है।जोशी ने कहा है कि सरकार के इशारे पर प्रशासनिक अधिकारी कांग्रेस के नेताओं पर बेवजह के मुकदमे लगा रहे हैं। ऐसे में अब जिन बीजेपी नेताओं ने कोरोना वायरस फैलाने का काम किया है। क्या उनके खिलाफ भी मुकदमे दर्ज होंगे? हालांकि, जोशी ने कोरोना पीड़ित बीजेपी पदाधिकारियों के प्रति सहानुभूति व्यक्त करते हुए उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना भी की है। बीजेपी के नैनीताल जिले के साथ ही कई प्रदेश स्तरीय पदाधिकारी भी संदिग्ध रूप से बीमार हैं। और सेल्फ क्वांरटीन हैं. ये वही नेता हैं जो प्रकाश और प्रदीप के टच में आए थे। खुद प्रदीप और प्रकाश हल्द्वानी के वरिष्ठ व्यापारी भगवान सहाय के टच में आए थे। संघ से जुड़े ये भगवान सहाय और उनकी पत्नी 14 जुलाई को ही पॉजिटिव पाए गए थे.बीजेपी नेताओं की कोरोना पॉजिटिव आने के बाद सियासत भी गरमा गई है।                       


चीन में फिर खोलें गए कई 'सिनेमाघर'

बीजिंग। चीन में कोरोना वायरस महामारी के कारण क़रीब छह महीने तक बंद रहे सिनेमाघर अब खुलना शुरू हुए हैं। सोमवार को शंघाई से लेकर चांगडू शहर के कई सिनेमाघर फिर से खोले गए। चीन संसार का दूसरा सबसे बड़ा सिनेमा मार्केट है और कोविड-19 महामारी की वजह से इसका काफ़ी नुकसान हुआ है। चीन प्रशासन ने पिछले सप्ताह ही कहा था कि जिन इलाक़ों में संक्रमण का ख़तरा अब कम है, वहाँ सिनेमाघर खोलने के बारे में जल्द ही कोई निर्णय लिया जायेगा। मार्च के बाद से, चीन में कोविड-19 के नए मामले सामने आने की दर लगातार गिरती गई है और अब जाकर चीन केअधिकांश इलाक़ों को ‘कम-रिस्क वाला’ घोषित किया गया है। इसके बावजूद कुछ शहरों ने सिनेमाघर फ़िलहाल बंद रखने का निर्णय लिया है क्योंकि चीन सरकार ने प्रांतों के स्थानीय प्रशासन पर यह निर्णय छोड़ा है कि वे सिनेमाघर खोलना चाहते हैं या नहीं। बीजिंग शहर में भी सिनेमाघर अभी नहीं खोले गये है। वजह है कि जून महीने के अंत में बीजिंग में कुछ नये मामले सामने आये थे जिसकी वजह से स्थानीय प्रशासन बहुत सतर्क है।चीन में सबसे ज़्यादा सिनेमाघर चलाने वाली कंपनी वांडा फ़िल्म ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया है कि उन्होंने अपने 600 सिनेमाघरों में से फ़िलहाल 43 सिनेमाघर ही खोले है। इनमें से 10 सिनेमाघर शंघाई में हैं। साल 2019 में चीन को सिनेमाघरों पर हुई टिकट बिक्री से 64 बिलियन चीनी युआन (क़रीब 684 अरब रुपये) की आमदनी हुई थी। चीन के नेशनल फ़िल्म एडमिनिस्ट्रेशन ने अनुमान लगाया है कि वर्ष 2019 की तुलना में चीन को फ़िल्मी टिकटों की बिक्री से होने वाली आमदनी में क़रीब 30 बिलियन चीनी युआन का नुक़सान होगा। यानी बॉक्स ऑफ़िस से होने वाली आमदनी आधी रह जायेगी।             


ज्यूरी में 18 जवान निकले पॉजिटिव

शिमला। हिमाचल की राजधानी शिमला में कोरोना का सबसे बड़ा विस्फोट सामने आया है। जहां पर एक साथ बीच नए मामले दर्ज किए गए है। जहां पर रामपुर के ज्यूरी में 43वीं वाहिनी आईटीबीपी के 18 जवान पॉजिटिव निकले हैं। ये जवान 23 जून को छुट्टी काटकर दूसरे राज्यों से यहां पर पहुंचे थे। एसडीएम रामपुर सुरेंद्र मोहन ने बताया कि सभी जवान ज्यूरी में क्वारन्टीन थे और आज सुबह इनके सैम्पल पॉजिटिव पाए गए। सभी की ट्रेवल हिस्ट्री बाहर की है। और सभी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद कोविड केयर सेंटर मशोबरा शिफ्ट किया जा रहा है। इसके अलावा रोहड़ू के मेंहदली में दो प्रवासी मजदूर पॉजिटिव मिले हैं। शिमला में अब कोरोना संक्रमण का आंकड़ा 91 पहुंच गया है। इनमें एक्टिव मामले 45 हैं।


फारुख खान


किसान यूनियन की बैठक में उठाई समस्या

भानु प्रताप उपाध्याय


शामली। गांव कुडाना में किसान यूनियन की एक बैठक हुई जिसमें किसानों से जुड़ी कई समस्याओं पर बात हुई। बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी सवित मलिक ने कहा कि किसान बहुत परेशान हैं। जहां गन्ने का भुगतान नहीं हो रहा है। वही उर्वरक और डीजल के भाव बढ़ते जा रहे हैं। किसान के पास पैसा नहीं है ऊपर से आने वाली फसल को आवारा जानवर खा जा रहे हैं आवारा पशु बड़ी संख्या में खेतों में घूम रहे हैं। सरकार ने गौशाला बनाने का वादा किया था जो सफल होता नहीं दिख रहा है। आवारा जानवर फसल ही नहीं होने देंगे तो किसान क्या करेगा किसान की हालत पहले से ही बहुत खराब है। इसी का एक उदाहरण है की किसान खेती के उपकरण भी नहीं खरीद पा रहे हैं।
केंद्र सरकार के तमाम दावों के बावजूद ग्रामीण अर्थव्यवस्था   और किसानों दशा सुधरने का नाम नहीं ले रही। कई राज्यों में फसलों का उचित दाम नहीं मिल रहा है और जिस हिसाब से महंगाई बढ़ रही है। उनकी इनकम ग्रोथ नहीं हो रही। गांवों और खेती-किसानी के विकास का बड़ा इंडीकेटर माने जाने वाले ट्रैक्टर की साल दर साल घटती बिक्री इसकी तस्दीक कर रही है। हालांकि, इस स्थिति में सुधार हो इसके लिए लगातार कृषि उपज की एश्योर्ड प्राइस देने और पीएम किसान सम्मान निधि की रकम 48 हजार रुपये करने की मांग हो रही है। क्या संदेश देते हैं ट्रैक्टर बिक्री के आंकड़ेः ट्रैक्टर मेन्यूफेक्चरिंग एसोसिएशन के आंकड़ों के मुताबिक 2018 में घरेलू मार्केट में 7,96,392 ट्रैक्टर बिके थे। जबकि 2019 में यह घटकर 7,23,525 पर आ गया। इस साल यानी 2020 के छह माह में सिर्फ 3,07,485 ट्रैक्टर ही बिके हैं। किसान भाई ट्रैक्टर से जमीन जोतकर खेती के लिए तैयार करते हैं। यह खेतों में बीज डालने, पौध लगाने, फसल लगाने और फसल काटना, थ्रेसिंग सहित कई काम में आता है।
किसानों के पास पैसा होता तभी तो खरीदेंगेः कृषि अर्थशास्त्री  के मुताबिक ट्रैक्टर बिक्री का गिरता आंकड़ा रुरल डिस्ट्रेस की बात को पुख्ता करता नजर आ रहा है। इससे आप आसानी से समझ सकते हैं कि एग्रीकल्चर की स्थिति कितनी गंभीर है। किसानों की आय गिरती जा रही है। उन्हें अपनी उपज का उचित दाम तक नहीं मिल पा रहा. उनकी उपज रखने की जगह नहीं है। देश के 17 राज्यों में किसानों की सालाना आय सिर्फ 20 हजार रुपये है। जब किसानों के पास आय होगी तभी तो वो पैसा खर्च करेगा। किसान यूनियन अध्यक्ष सवित मलिक ने कहा कि कृषि की विकास  की दर भी बहुत अधिक नहीं है. किसानों की आमदनी लगातार घट रही है। कई फसलों का जब तो न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) तक नहीं मिल रहा। जब खेती घाटे का सौदा हो जाएगी तब कौन ट्रैक्टर खरीदेग।गन्ना किसानों का भी बुरा हाल है। अकेले यूपी में ही 15 हजार करोड़ रुपये बाकाया है। पिछले दो साल से यूपी जैसे बड़े राज्य में गन्ने का एक भी रुपया नहीं बढ़ाया गया है। जबकि महंगाई बढ़ गई है। जयपाल सिंह कहते हैं कि 12 जुलाई 2020 तक बुवाई 586 लाख हेक्टेयर में हो चुकी है, जो पिछले साल 12 जुलाई तक 402 लाख हेक्टेयर ही थी। खाद की बिक्री 2019 की मई के मुकाबले 2020 की मई में 73 फीसदी ज्यादा है। जब यह सब बढ़ रहा है तो इस लिहाज से ट्रैक्टर की बिक्री काफी बढ़नी चाहिए थी. जबकि बढ़ी नहीं। इसका मतलब ये है कि किसान अपना ट्रैक्टर लेने की बजाय किराये पर काम करवा रहे हैं। क्योंकि उनके पास पैसा नहीं है। इस बैठक मे ऋषि पाल मलिक को जिला उपाध्यक्ष पद पर नियुक्त किया गया उपस्थित लोग अनिल मलिक ऋषि पाल मलिक जयपाल सिंह अंशुल कुमार जसवीर जय वीर परविंदर अंकुर रविंदर आदि।             


हापुड़ः 5 दिन खुलेंगे बाजार, आदेश जारी

अतुल त्यागी
हापुड़ मेें खुलेंगे पांच दिन बाजार
हापुड़। जनपद हापुड़ के व्यापारियों के लिए राहत भरी खबर है। जिला प्रशासन ने जनपद हापुड़ के बाजारों को सोमवार से शुक्रवार तक सुबह नौ बजे से रात आठ बजे तक खोलने के आदेश जारी किए हैं।
जिला प्रशासन की एक सूचना के अनुसार जनपद हापुड़ के शहर हापुड़, गढ़मुक्तेश्वर, बहादुरगढ़, सिम्भावली, बाबूगढ़, धौलाना की ऐसी दुकानें व बाजार जो हाटस्पाट,कंटेंमेंट जान, बफर जोन से बाहर हंै, को प्रति सप्ताह सोमवार से शुक्रवार तक सुबह नौ बजे से रात्रि आठ बजे तक खोले जाने के आदेश दिए है। समस्त जनपद में शनिवार व रविवार को साप्ताहिक पूर्ण अवकाश रहेगा।             


पुलिस ने कार्रवाई के दौरान काटें चालान

अतुल त्यागी
गढमुक्तेश्वर/हापुड़। आखिर क्यों है बहादुरगढ़ पुलिस कार्यवाही पर उतारू। बगैर मास्क निकला तो भुगतोगे हरजाना। गढमुक्तेश्वर के थाना बहादुरगढ़ पुलिश ने अलख सुबह रोड पर कार्यवाही के दौरान काटे चालान। वहीं अपने को नेता बताने वाले बगैर मास्क पहने यूवक से थाना प्रभारी ने कारण पूछा तो कारण बताने के बजाय थाना प्रभारी को.1076 पर शिकायत।
करने की धमकी देने लगा। लेकिन थाना प्रभारी नीरज कुमार ने कहा आप नेता हैं आपकी कार्यवाही बाद में पहले लौक डाउन और गाइड लाइन के उल्लंघन की कार्यवाही झेलो और काटा चालान। थाना प्रभारी ने बताया कि कोइ भी हो गाइड लाइन का उल्लंघन पर कार्यवाही की जायेगी कोई नहीं बख्सा जायेगा।               


बिहार की स्थिति बनती जा रही 'भयावह'

पटना। कोरोना बिहार की स्थिति को इतनी भयावह बनाती जा रही है कि क्या विपक्ष और क्या पक्ष सभी बिहार सरकार के दावों के पोल खोलते नजर आ रहे है। जनता ने तो सरकार की नाकामियों से फेसबुक जैसे चर्चित सोशल मीडिया को गुलजार कर रखा है। या यूं कहें तो कोरोना से सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था बदहाल है और बिहार सरकार लाचार है।जेडीयू सांसद ने ही बिहार के स्वास्थ्य व्यवस्था की पोल खोल दी।उनका कहना है कि संक्रमित लोग टेस्ट के लिए दर दर भटक रहे हैं और उनकी जांच तक नहीं की जा रही है।आलम ये है कि जब तक जांच रिपोर्ट सामने आती है। तब तक मरीज इस दुनिया को छोड़कर चला जाता है।           


                                                                        


9000 टन मसालों का किया निर्यात

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की वजह से सब कुछ अस्त व्यस्त पड़ा है और इसी बीच 9000 टन मसालों का निर्यात किया गया। मिर्च, हल्दी और जीरे जैसे मसालों को रेल मार्ग के जरिए बांग्लादेश को निर्यात किया गया। एक अधिकारी ने कहा कि कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन लगने के बाद ये पहली बार है जब रेल मार्ग से कोई निर्यात किया गया हो। पिछले एक महीने में 5000 टन से अधिक हल्दी, 4300 टन से अधिक मिच्र और 100 टन जीरा आंध्र प्रदेश और तेलंगाना से बांग्लादेश भेजा गया है।

भारत के लिए बांग्लादेश मसालों को निर्यात करने का एक अच्छा देश है, जहां पर देश के कुल मसाले का करीब 9 फीसदी निर्यात किया जाता है। 2019-20 के दौरान करीब 1,09,950 टन मसाले बांग्लादेश भेजे गए जिनकी कीमत करीब 1005 करोड़ रुपये थी। इसमें सबसे अधिक जीरा, मिर्च, हल्दी और अदरक का निर्यात किया गया।

   इससे पहले भारत से निर्यात होने वाले मसालों का करीब 95 फीसदी हिस्सा बांग्लादेश को घोजदंगा, मुंद्रा, हिली, मोहादिपुर, पेट्रापोल, नहावा शेवा जैसे पोर्ट्स या फिर रोड के जरिए छोटी-छोटी मात्रा में भेजा जाता था। अधिकारियों का कहना है कि ये पहली बार है जब हल्दी और मिर्च के निर्यातकों ने दक्षिण केंद्रीय रेलवे के साथ मिलकर रेल मार्ग से ये मसाले बांग्लादेश भेजे हैं। निर्यातकों के अनुसार रेल से निर्यात करना तेज, सुरक्षित और आसान है, जिससे बहुत सारा सामान एक साथ भेजा जा सकता है। अगर इसकी तुलना सड़क मार्ग से करें तो ट्रेन से ट्रांसपोर्टेशन में करीब 60 फीसदी चार्ज बचता है। पहले जो चार्ज प्रति किलो पर 5 रुपये लगता था, वह ट्रेन से सिर्फ 1.7 से 2 रुपये प्रति किलो लगता है।              

विस्फोटक पर गलती से पड़ा पैर, शहीद

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के कारगिल सेक्टर में बड़ा हादसा हो गया। यहां रविवार को नियंत्रण रेखा के पास एक भारतीय जवान शहीद हो गया। एक सैन्य अधिकारी ने बताया कि जवान का पैर गलती से एक पुराने विस्फोटक उपकरण पर पड़ गया था। जिसकी वजह से वह ब्लास्ट हो गया और उसकी मौत हो गई। वहीं, पाकिस्ता ने सुंदरबनी में एलओसी पर रविवार शाम को पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया। रक्षा प्रवक्ता के अनुसार,शाम करीब 7 बजे पाकिस्तान ने उकसावे वाली कार्रवाई करते हुए भारतीय चौकियों पर गोलीबारी की। हालांकि सेना ने भी इसका मुंहतोड़ जवाब दिया।


पाकिस्तान की गोलीबारी में 3 नागिरकों की हुई थी मौत
इससे पहले शुक्रवार को पाकिस्तान की ओर से जम्मू-कश्मीर के पुंछ के गुलपुर और खड़ी करमाडा सेक्टर में भारतीय सेना की चौकियों को निशाना बनाते हुए फायरिंग की गई। इस गोलीबारी में 3 स्थानीय नागरिकों की मौत हो गई थी। पाकिस्तान की ओर से दागा गया एक गोला सेल गांव में एक घर के पास आकर गिरा। जिसमें 3 लोगों की मौत हो गई, जबकि एक शख्स गंभीर रूप से घायल हो गया है। भारी फायरिंग और गोलाबारी के चलते सुरक्षबालों को रेस्क्यू करने में दिक्कत आ रही है। पुलिस और प्रशासन की टीमें मौके पर पहुंच गई हैं। बता दें कि पाकिस्तान की सेना ने इस साल दो हजार से अधिक बार सीजफायर का उल्लंघन किया है।


पाकिस्तान की तरफ से लगातार हो रही फायरिंग
गौरतलब है कि बीते शनिवार को भी पाकिस्तान की तरफ से उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के दो इलाकों और राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में गोलाबारी की गई थी। बारामपूला में पाकिस्तानी फायरिंग में 6 लोग घायल हुए थे। बता दें कि सोमवार को शहीद हुए जवान से पहले 4 जून को राजौरी सेक्टर के सुदरबनी सेक्टर में हवलदार पी मथिआजगन, 10 जून को तरकुंडी सेक्टर में नायक सूबेदार गुरचरण सिंह, 14 जून को पुंछ जिले में 29 वर्षीय सिपाही लुंगंबुइ अबोनेमी भी पाकिस्तान की ओर से हो रही फायरिंग में शहीद हो चुके हैं।


भोजपुर से 119 कोरोना मरीज लापता

भोजपुर। बिहार में जारी कोरोना संक्रमण के बीच भोजपुर से लापरवाही की बड़ी खबर सामने आई है। जिले में आइसोलेशन कम ट्रीटमेंट सेंटर जैसे कोरोना अस्पतालों से भी मरीज लापता होने लगे हैं। जिससे जिले में संक्रमण का खतरा बढ़ रहा है।जिलें के आरा, पीरो और जगदीशपुर के तीन सेंटरों से 119 मरीजों के लापता होने की सूचना है। शुक्रवार को पीरो में 12 मरीज थे, जबकि आरा स्थित आइसोलेशन कम ट्रीटमेंट सेंटर से 01 मरीज को डिस्चार्ज किए जाने के बाद वहां 59 मरीज बाकी बचे थे। बता दें कि शुक्रवार को जिला प्रशासन द्वारा जारी प्रेस नोट में एक्टिव संक्रमितों की संख्या 213 बताई गई थी जबकि उस दिन जिले के तीनों आइसोलेशन सेंटर में महज 91 संक्रमित मरीज ही मौजूद थे और तीन को होम आइसोलेशन में भेजा गया था। इस तरह आइसोलेशन सेंटर से लापता हुए 119 मरीजों की पड़ताल अभी भी जारी है।



 


जिला प्रशासन के संज्ञान में भी 11 संक्रमित हैं लापता


बिहार भर में कोरोना संक्रमित मरीजों तथा मृतकों की जानकारी छिपाए जाने की खबरों के बीच भोजपुर जिले में महज 24 घंटों के भीतर 11 एक्टिव कोरोना मरीज लापता हो चुके हैं, जिसकी जानकारी जिला सूचना एवं जनसंपर्क विभाग द्वारा जारी प्रेस नोट से मिली है। प्रेस नोट में दी गई जानकारी के मुताबिक गुरूवार को जिले में कुल संक्रमितों की संख्या 521 और स्वस्थ हो चुके मरीजों की संख्या 344 बताई गई थी। जबकि शुक्रवार को 52 नए संक्रमित मिलने के बाद भी कुल संक्रमितों की संख्या 573 के बदले महज 561 ही बताई गई।शुक्रवार को स्वस्थ हो चुके मरीजों की कुल संख्या गुरूवार की अपेक्षा एक अधिक यानि 345 बताई गई है। ऐसे में महज 24 घंटों के भीतर जिला प्रशासन की सूची से गायब हो चुके 11 एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीजों की पड़ताल निहायत जरूरी है।             


अपनी सरजमीं पर सीरीज खेलेगी इंग्लैंड

नई दिल्ली। मेजबान इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाली तीन मैचों की वनडे और इतने ही मैचों की टी20 सीरीज का संभावित शेड्यूल सामने आ गया है। ऑस्ट्रेलियाई टीम को जुलाई में इंग्लैंड के खिलाफ 3-3 मैचों की वनडे और टी20 सीरीज खेलनी थी, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण इस दौरे को स्थगित कर दिया गया, लेकिन एक बार जब क्रिकेट की बहाली इंग्लैंड में हो गई है तो ऐसे में फिर से इस सीरीज की संभावना बढ़ गई थीं। इस तरह एक और सीरीज इंग्लैंड की टीम अपनी सरजमीं पर खेलेगी।


इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे और टी20 सीरीज सितंबर के पहले हाफ में हो सकती है। द डेली टेलिग्राफ की रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों देशों के बीच 4 सितंबर से टी20 सीरीज शुरू होने की उम्मीद है, जबकि 10 सितंबर से वनडे सीरीज का आयोजन होने की उम्मीद है। प्राइवेट फ्लाइट के जरिए ऑस्ट्रेलियाई टीम सीधे इंग्लैंड पहुंचेगी और जल्द से जल्द सीरीज की शुरुआत हो जाएगी। इससे पहले ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी अपने यहां क्वारंटाइन में रहेंगे।


रिपोर्ट के मुताबिक, तीन मैचों की टी20 सीरीज का पहला मुकाबला 4 सितंबर को दूसरा मुकाबला 6 सितंबर और तीसरा मुकाबला 8 सितंबर को होगा, जबकि वनडे सीरीज का पहला मैच 10 सितंबर, दूसरा मैच 12 सितंबर और तीसरा मैच 15 सितंबर को खेला जाना है। ये सभी मैच साउथैंप्टन के एजेस बाउल और मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड में खेले जा सकते हैं, क्योंकि यहां दोनों टीमों के खिलाड़ियों, सपोर्ट स्टाफ और ब्रॉडकास्टर्स के लिए पास में बड़े-बड़े होटल हैं।

इंग्लैंड बनाम पाकिस्तान श्रृंखला पूर्ण अनुसूची


पहला T20 मैच – 4 सितंबर – साउथैंप्टन


दूसरा T20 मैच – 6 सितंबर – साउथैंप्टन


तीसरा T20 मैच – 8 सितंबर – साउथैंप्टन


पहला वनडे मैच – 10 सितंबर- मैनचेस्टर


दूसरा वनडे मैच – 12 सितंबर- मैनचेस्टर


तीसरा वनडे मैच – 15 सितंबर – मैनचेस्टर


बता दें मेजबान इंग्लैंड की टीम मौजूदा समय में वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज खेल रही है। इसके बाद इंग्लैंड को आयरलैंड के खिलाफ तीन मैचों की वनडे सीरीज खेलनी है, जबकि इसके बाद इंग्लैंड की टीम को पाकिस्तान के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज और फिर इतने ही मैचों की टी20 सीरीज खेलनी है।             


सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार में तेजी

नई दिल्ली। सप्ताह के पहले दिन भारतीय शेयर बाजार में तेजी देखने को मिली। जहाँ सेंसेक्स सोमवार को 389 अंक की बढ़त के साथ 37,409.03 पर खुला है। सोमवार को शुरुआती कारोबार में बीएसई के सूचकांक सेंसेक्स के 30 शेयरों में से 18 शेयर हरे निशान पर और 12 शेयर लाल निशान पर ट्रेंड करते देखे गए।


वहीँ निफ्टी सोमवार सुबह 9 बजकर 37 मिनट पर 0.97 फीसद या 106.15 अंक की बढ़त के साथ 11,007.85 पर ट्रेंड कर रहा था। शुरुआती कारोबार में 50 शेयरों वाले निफ्टी के 29 शेयर हरे निशान पर, 20 शेयर लाल निशान पर और 1 शेयर बिना किसी बदलाव के ट्रेंड करता दिखा। सप्ताह के पहले कारोबारी दिन सोमवार को शुरुआती कारोबार में 11 सेक्टोरल सूचकांकों में से 8 सूचकांकों में बढ़त और तीन में गिरावट देखी गई। निफ्टी ऑटो में 0.05 फीसद, निफ्टी एफएमसीजी में 0.09 फीसद और निफ्टी फार्मा में 0.89 फीसद की गिरावट देखने को मिली।


वही, निफ्टी बैंक में 2.01 फीसद, निफ्टी प्राइवेट बैंक में 1.90 फीसद, निफ्टी पीएसयू बैंक में 1.27 फीसद, निफ्टी फाइनेंस सर्विस में 2 फीसद, निफ्टी आईटी में 1.26 फीसद, निफ्टी मीडिया में 0.74 फीसद, निफ्टी मेटल में 0.67 फीसद और निफ्टी रियल्टी में 0.64 फीसद की तेजी देखने को मिली है।               


सोने के भाव में आई मामूली गिरावट

नई दिल्ली। सप्ताह के पहले दिन आज सोमवार को सोने की वायदा कीमत 0.18 फीसद या 88 रुपये की गिरावट के साथ 48,879 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेंड करती दिखाई दी। एमसीएक्स पर सोमवार सुबह चार सितंबर 2020 की चांदी का वायदा भाव 0.15 फीसद या 81 रुपये की गिरावट के साथ 52,818 रुपये प्रति किलोग्राम पर ट्रेंड कर रहा था। अंतरराष्ट्रीय बाजार में भी सोमवार सुबह चांदी की वायदा और हाजिर दोनों ही कीमतों में गिरावट देखी गई है।


अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोमवार सुबह सोने के वायदा और हाजिर दोनों भाव गिरावट के साथ ट्रेंड करते दिखे हैं। ब्लूमबर्ग के अनुसार, सोमवार सुबह कॉमेक्स पर सोने का वैश्विक वायदा भाव 0.03 फीसद या 0.60 डॉलर की गिरावट के साथ 1,809.40 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड करता दिखा। वहीं, सोने का वैश्विक हाजिर भाव सोमवार सुबह 0.10 फीसद या 1.90 डॉलर की गिरावट के साथ 1,808.52 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड करता दिखा। सोने की तरह ही चांदी की भी वैश्विक वायदा और वैश्विक हाजिर दोनों कीमतों में सोमवाार सुबह गिरावट दर्ज की गई है। सोमवार सुबह कॉमेक्स पर चांदी की वैश्विक वायदा कीमत 0.32 फीसद या 0.06 डॉलर की गिरावट के साथ 19.70 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड कर रही थी। वहीं, चांदी की वैश्विक हाजिर कीमत इस समय 0.10 फीसद या 0.02 डॉलर की गिरावट के साथ 19.31 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेंड कर रही थी।            


4 राज्यों में तेजी से फैला कोरोना संक्रमण

नई दिल्ली। देश में कोरोना का प्रकोप बढ़ता रहा है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 40 हजार से अधिक नए केस सामने आए हैं। जो कि अब तक का सबसे भयावह आंकड़ा है। कोरोना ने देश के कुछ राज्यों में ताडंव मचा दिया है। आधे से अधिक संक्रमित देश के इन्ही राज्यों से हैं। जिनमें महाराष्ट्र, तमिलनाडु, दिल्ली, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश से अधिक प्रभावित है। यहां संक्रमितों की कुल संख्या 7,16,890 तक पहुंच गई। जो कुल संक्रमितों का 64.12 फीसदी है। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या 310,455, तमिलनाडु में 170,693। दिल्ली में 122,723, कर्नाटक में 63,772 और उत्तर प्रदेश में 49,247 है। महाराष्ट्र में कोविड-19 से अब तक 1,69,569 लोग स्वस्थ हुए हैं।


वहीं तमिलनाडु में 1,17,915, राजधानी दिल्ली में 1,17,915, कर्नाटक में 23065 और उत्तर प्रदेश में 28,845 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। गौरतलब है कि  देश में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना (Corona )संक्रमण के एक दिन में रिकार्ड 40 हजार से अधिक मामले सामने आए हैं। इसके संक्रमितों की संख्या बढ़कर 11.18 लाख हो गयी।केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 40,425 मामलों की पुष्टि हुई।


जिससे संक्रमितों की संख्या 11,18,043 हो गई। जबकि मृतकों की संख्या 681 बढ़कर 27,497 हो गयी है। इसी अवधि में 22,664 मरीज स्वस्थ हुए हैं। जिसे मिलाकर अब तक 7,00,087 लोग कोरोना से मुक्ति पा चुके हैं। देश में अभी कोरोना संक्रमण के 3,90,459 सक्रिय मामले हैं।विभिन्न राज्यों में पिछले 24 घंटों के दौरान स्थिति पर नजर डालें तो सर्वाधिक प्रभावित महाराष्ट्र में संक्रमण के 9518 नये मामले सामने आए और 258 लोगों की मौत हुई। यहां अब संक्रमितों का आंकड़ा 3,10,455 और मृतकों की संख्या 11,854 है।


दिल्ली एम्स में को-वैक्सीन का ट्रायल शुरू

हरिओम उपाध्याय


नई दिल्ली। को-वैक्सीन नाम के स्वदेशी वैक्सीन का दिल्ली के एम्स में आज से ह्यूमन ट्रायल शुरू होने जा रहा है। इस वैक्सीन का नाम है ‘Covaxin’ और बहुत जल्द ये वैक्सीन महामारी का इलाज कर रहे डॉक्टरों के हाथों में आ सकती है।


‘Covaxin’ के पहले और दूसरे चरण के क्लीनिकल टेस्ट की अनुमति दी जा चुकी है और पिछले हफ्ते से इसका इंसानों पर टेस्ट शुरू हो चुका है। आइसीएमआर और भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड मिलकर ‘Covaxin’ बना रही है और आज से इसका ह्यूमन ट्राइल दिल्ली के एम्स में शुरू हो जाएगा। कोरोना किलर वैक्सीन का ह्यूमन टेस्ट दिल्ली एम्स के साथ साथ देश के कुल 12 सेंटर्स पर हो रहा है। पहले चरण में कुल 375 वॉलंटियर पर ट्रायल होगा, जिसमें से 100 लोगों का टेस्ट दिल्ली के एम्स में होगा। सिर्फ 18 से 55 साल के उम्र के लोग ही ट्रायल में शामिल हो सकेंगे।


बता दें कि जिस शख्स पर कोरोना वैक्सीन का ट्रायल होगा पहले उसका कोविड टेस्ट किया जाएगा। खून, लीवर, बीपी और किडनी समेत तमाम टेस्ट में स्वस्थ पाए जाने वाले को ही वैक्सीन की डोज दी जाएगी। इसके बाद ये तय होगा कि इसके अगले चरण में क्या होने वाला है।


देश की आर्थिक हालत पर ध्यान दें सरकार

सोलापुर। राम मंदिर, कोरोना संक्रमण और अर्थव्यवस्था के मुद्दों को लेकर इशारों ही इशारों में बीजेपी पर निशाना साधते हुए एनसीपी नेता शरद पवार ने सोलापुर में पत्रकारों से कहा कि कुछ लोगों को लगता है कि राम मंदिर बनने से कोरोना ख़त्म हो जाएगा। हमें अपनी प्राथमिकता तय करनी होगी. यह तय करना होगा कि महत्वपूर्ण क्या है।


उन्होंने कहा कि सरकार को देश की आर्थिक हालत पर ध्यान देना चाहिए. इससे एक दिन पहले ही, शनिवार को अयोध्या में मंदिर निर्माण के मद्देनज़र राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की दूसरी बैठक हुई थी। बैठक के बाद ट्रस्ट के सदस्य और बीजेपी नेता कामेश्वर चौपाल ने बताया कि मंदिर की आधारशिला रखने के लिए तीन या पांच अगस्त की तारीख़ का प्रस्ताव रखा गया है। ट्रस्ट ने कहा था कि भूमिपूजन की तारीख़ का फ़ैसला प्रधानमंत्री कार्यालय करेगा. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर की आधारशिला रखने ख़ुद अयोध्या जाएंगे।


चीन ने मोदी को अपने जाल में फंसाया

भीष्म पटेल


नई दिल्ली। लोकसभा सांसद और वरिष्ठ कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो साझा किया है, जिसमे वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अपनी फर्जी छवि पेश करने को लेकर हमला बोल रहे हैं। चीन मसले पर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए इस वीडियो में राहुल कहते हैं, यह साधारण सीमा विवाद नहीं है, मेरी चिंता यह है कि चीनी हमारी सीमा में बैठे हैं। चीन बगैर रणनीतिक सोच के कोई कदम नहीं उठाते हैं। इस वीडियो को चीन की रणनीति उजागर के नाम से राहुल गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर साझा किया है।


यह साधारण सीमा विवाद नहीं


राहुल कहते हैं कि चीनियों के दिमाग में उनके दिमाग में संसार का नक्शा खींचा हुआ है और वो अपने हिसाब से उसे आकार दे रहे हैं। जो वह कर रहा है, वह उसका पैमाना है, उसी के तहत ग्वादर है, उसी में बेल्ट एंड रोड आता है। यह दरअसल इस संसार की पुनर्रचना है। इसलिए जब आप चीनियों के बारे में सोचें, आपको यह समझना होगा कि वह किस स्तर पर सोच रहे हैं। अब अगर आप सामरिक स्तर पर देखें, वह अपनी स्थिति मजबूत कर रहे हैं, चाहे वह गलवान हो, डेमचोक हो या फिर पैंगोंग झील। इनका स्पष्ट इरादा है, मजबूत स्थिति में जाना। हमारे हाइवे से वो परेशान हैं। वह हमारा हाइवे बंद करना चाहते हैं और अगर वह कुछ बड़ा सोच रहे हैं, पाकिस्तान के साथ कश्मीर में। लिहाजा यह साधारण सीमा विवाद नहीं है।             


भारत की दो वैक्सीन का मानवीय परीक्षण

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से निजात दिलाने वाली वैक्सीन कब तक बनेगी? हर किसी के जेहन में आज यही सवाल गूंज रहा है। दुनियाभर में कई वैक्सीन कैंडिडेट्स की खोज इस पर जारी है। वर्तमान में लगभग 18 वैक्सीन कैंडिडेट्स को ह्यूमन ट्रायल स्टेज पर टेस्ट किया जा रहा है, जिसमें से दो भारतीय वैक्सीन भी हैं। हैदराबाद की ‘भारत बायोटेक’ और अहमदाबाद की कंपनी ‘जायडस कैडिला’ ने ये वैक्सीन तैयार की हैं। जुलाई के मध्य में इनका ट्रायल शुरू हो चुका है। किसी भी वैक्सीन का आखिरी चरण ह्यूमन ट्रायल ही होता है। ह्यूमन ट्रायल काफी लंबा होता है। कई बार नतीजे तक पहुंचने में सालों लग जाते हैं।


क्या होता है ह्यूमन ट्रायल?
किसी भी दवा या ड्रग का इंसान पर परीक्षण ह्यूमन ट्रायल कहलाता है। इस परीक्षण में मुख्य रूप से दो पहलुओं की जांच की जाती है. पहला, वैक्सीन या दवा सुरक्षित है या नहीं। दूसरा, क्या दवा वाकई अपना काम करने में कारगर है। क्या वो रोगजनक वायरस के खिलाफ शरीर की इम्युनिटी बढ़ाने में सक्षम है।


कितने लोग ले सकते हैं हिस्सा?
ह्यूमन ट्रायल के किसी विशेष चरण में कितने स्वयंसेवकों का हिस्सा होना चाहिए, इसके लिए कोई अंतरराष्ट्रीय मानक निर्धारित नहीं है। आमतौर पर, इसके पहले चरण में कम लोगों पर दवा को टेस्ट किया जाता है। जबकि दूसरे और तीसरे चरण में लोगों के बड़े समूह पर टेस्टिंग होती है। हालांकि US की फूड एंड ड्रग ऑथोरिटी ने इसमें लोगों की संख्या को लेकर जानकारी दी है।


अलग-अलग स्टेज पर इतने लोग ले सकते हैं भाग


1. ह्यूमन ट्रायल के पहले चरण में वॉलंटियर्स की संख्या 20 से 100 के बीच हो सकती है।


2. ह्यूमन ट्रायल के दूसरे चरण में वॉलंटियर्स की संख्या 100 से अधिक हो सकती है।


3. ह्यूमन ट्रायल के तीसरे स्टेज में वॉलंटियर्स की संख्या 1000 के पार हो ससकती है।


4. ह्यूमन ट्रायल के चौथे व अंतिम चरण में हजारों लोगों पर दवा या ड्रग को टेस्ट किया जाता है।


भारतीय वैक्सीन से सफलता की कितनी उम्मीद?
भारत में कोरोना वायरस की दो वैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल स्टेज पर टेस्ट किया जा रहा है। पहली वैक्सीन हैदराबाद की भारत बायोटेक ने ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) के साथ मिलकर बनाई है, जबकि दूसरी वैक्सीन अहमदाबाद की प्राइवेट फार्मास्यूटिकल कंपनी जायडस कैडिला ने विकसित की है।


भारत बायोटेक: भारत बायोटेक द्वारा विकसित वैक्सीन Covaxin का ह्यूमन ट्रायल जुलाई के मध्य में शुरू हो चुका है। ह्यूमन ट्रायल के पहले चरण में 375 लोग हिस्सा लेंगे। शोधकर्ताओं का अनुमान है कि परीक्षणों के संयुक्त चरणों को पूरा होने में एक वर्ष और तीन महीने का समय लग सकता है।


आय 14 हजार, स्विस बैंक में 196 करोड़

डी नंदनी


मुंबई। 80 वर्षीय बुजुर्ग महिला से जुड़ा एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। इस महिला के स्विस बैंक खाते में 196 करोड़ रुपए ब्लैक मनी मिली है। हैरत में डालने वाली बात यह है कि यह बुजुर्ग महिला केवल 14 हजार रुपए मासिक आमदनी होने का दावा करती है। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आयकर अपीलीय अधिकरण की मुंबई बेंच के आदेश के बाद अब आरोपी महिला से हर्जाना वसूला जाएगा। दरअसल, अब वृद्धा से टैक्स के साथ ही पेनाल्टी भी वसूली जाएगी।


दरअसल, 80 वर्षीय रेणु थरानी का एचएसबीसी जेनेवा में खाता है। स्विस बैंक में थरानी फैमिली ट्रस्ट के नाम के इस बैंक की इकलौती विवेकाधीन लाभार्थी हैं। केमन आइलैंड आधारित जीडब्ल्यू इन्वेस्टमेंट के नाम पर इस बैंक खाते को जुलाई 2004 में आॅपन किया गया था। जिसके बाद इस कंपनी ने व्यवस्थापक के तौर पर फंड को फैमिली ट्रस्ट को स्थानातंरित कर दिया। मामले में खुलासा तब हुआ जब 2005-06 में दाखिल आईटी रिटर्न के समय थरानी इसकी जानकारी छिपाई। यह मामल 31 अक्टूबर 2014 को रि—आॅपन किया गया। इस दौरान थरानी की ओर से एक शपथपत्र दिया गया, जिसमें बताया गया कि उनका एचएसबीसी जेनेवा में कोई बैंक खाता नहीं है। यही नहीं यह भी बताया गया कि वह जीडब्ल्यू इन्वेस्टमेंट बैंक में डायरेक्टर या शेयरहोल्ड नहीं थीं। इसके साथ ही थरानी को खुद को नॉन रेजिडेंट भी बताया। उन्होंने दावा किया कि अगर कोई ऐसा धन है भी तो उससे पर कोई कर नहीं लगाया जा सकता।


थरानी ने अपने आईटी रिटर्न में इस बात का भी जिक्र किया कि उनकी सालाना आमदनी केवल 1.7 लाख रुपए है। उन्होंने इसमें बेंगलुरु का अड्रेस दिया था और करदाता स्टेटस इंडियन बताया। इस पर जब ITAT बेंच को शक हुआ तो उसने सवाल खड़ा किया कि ऐसा कैसे हो सकता है कि वह तब वह एनआरआई रेजिडेंशियल स्टेटस के फर्स्ट ईयर में हों और इतने से टाइम में 200 करोड़ रुपए खाते में जमा हो गए।              


हम जानते हैं सचिन निकम्मा हैः अशोक

जयपुर। जराजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बार फिर सचिन पायलट पर तीखा हमला किया है। सोमवार को अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट ने कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंपने का काम किया है, उन्हें काफी कम उम्र में बहुत कुछ मिल गया था। सीएम ने कहा कि उन्हें पता था कि सचिन पायलट नाकारा थे।


"एक छोटी खबर भी नहीं पढ़ी होगी किसी ने कि पायलट साहब को कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष के पद से हटाना चाहिए। हम जानते थे कि वो (सचिन पायलट) निकम्मा है, नकारा है, कुछ काम नहीं कर रहा है खाली लोगों को लड़वा रहा है": राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत


इससे पहले भी राजस्थान के सीएम की ओर से सचिन पायलट पर निशाना साधा जा चुका है। अब सोमवार को अशोक गहलोत ने कहा कि हमने कभी सचिन पायलट पर सवाल नहीं किया, सात साल के अंदर एक राजस्थान ही ऐसा राज्य है जहां प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को बदलने की मांग नहीं की गई। हम जानते थे कि वो निकम्मे थे, नाकारा थे लेकिन मैं यहां बैंगन बेचने नहीं आया हूं, मुख्यमंत्री बनकर आया हूं। हम नहीं चाहते हैं कि उनके खिलाफ कोई कुछ बोले, सभी ने उनको सम्मान दिया है।पूर्व डिप्टी सीएम पर सीएम गहलोत ने आरोप लगाया कि ये जो खेल अभी हुआ है, वो दस मार्च को होना था। 10 मार्च को मानेसर गाड़ी रवाना हुई थी, लेकिन तब हमने उस मामले को सभी के सामने लाए। अशोक गहलोत ने कहा कि वो कांग्रेस का अध्यक्ष बनना चाहते थे, बड़े-बड़े कॉरपोरेट उनकी फंडिंग कर रहे हैं। बीजेपी की ओर से फंडिंग की जा रही है, लेकिन हमने सारी साजिश फेल कर दी।


राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि आज देश में गुंडागर्दी हो रही है, मनमर्जी के हिसाब से छापे मारे जा रहे हैं। मुझे दो दिन पहले ही पता लग गया था कि मेरे करीबियों के छापे पड़ेंगे। अशोक गहलोत ने दावा किया कि आज सचिन पायलट के समर्थन में जितने वकील केस लड़ रहे हैं, सभी महंगी फीस वाले हैं तो उनका पैसा कहां से आ रहा है। क्या सचिन पायलट सभी पैसा दे रहे हैं?


सचिन पायलट पर निशाना साधते हुए अशोक गहलोत ने कहा कि पायलट साहब गाड़ी चलाकर खुद दिल्ली जाते थे, छुपकर जाते थे। हमने सचिन पायलट की साजिश का पर्दाफाश किया, बीजेपी इसके पीछे खेल रही है। जो विधायक हमारे यहां पर रुके हैं, उनको कोई छूट नहीं है। लेकिन मानेसर में विधायकों के मोबाइल छीन लिए गए हैं, विधायक रो रहे हैं।


गौरतलब है कि एक तरफ कांग्रेस का नेतृत्व सचिन पायलट को वापस लाने की कोशिश कर रहा है, लेकिन दूसरी ओर अशोक गहलोत उनपर सीधा निशाना साध रहे हैं। इससे पहले भी अशोक गहलोत ने सचिन पायलट को निशाने पर लिया था और आरोप लगाया था कि हमारा डिप्टी सीएम ही सरकार गिराने में लगा था।


सभी प्लांस में रोज मिलेगा, 2 जीबी डाटा

कविता गर्ग


नई दिल्ली। कोरोनावायरस के चलकते अभी भी ज्यादातर लोग घर से काम कर रहे हैं ताकि खुद को सुरक्षित रख सके। इस बीच डेटा की खपत भी अधिक हो रही है जिसके चलते लोगों को परेशानी का भी सामना करना पड़ रहा है। चलिए आज आपको इसी समस्या से निकालने के लिए रिलायंस जियो, एयरटेल और वोडाफोन-आइडिया के कुछ ऐसे प्लान्स की जानकारी देंगे जिसमे प्रतिदिन आपको 2 जीबी डेटा का लाभ मिलेगा।


Jio 2GB Data Plan


रिलायंस जियो के पास 249 और 599 रुपये वाले दो प्रीपेड प्लान्स हैं जिसमें हर दिन 2 जीबी डेटा का लाभ मिलेगा। इन दोनों प्लान्स की वैधता 28 और 84 दिनों की है। इसके अलावा इन दोनों पैक में हर दिन 100 फ्री एसएमएस के साथ जियो टू जियो पर अनलिमिटेड फ्री कॉलिंग का फायदा मिलेगा। साथ ही दूसरे नेटवर्क पर कॉलिंग के लिए 1000 और 3000 मिनट्स मिलेंगे। वहीं जियो डिजिटल प्लैटफॉर्म और ऐप्स के सर्विसेज फ्री मिलेंगे।


Airtel 2GB Data Plan


कंपनी के पास 298 रुपये और 698 रुपये वाला दो प्लान है जिसमें हर दिन 2 जीबी डेटा मिलेगा। इसके अलावा इनकी वैधता 28 और 84 दिनों की है। इन पैक्स में सभी नेटवर्क्स पर अनलिमिटेड कॉलिंग और हर रोज 100 फ्री एसएमएस भी मिलेगा। इन प्लान्स में अन्य बेनिफिट्स के तहत एयरटेल थैंक्स ऐप के साथ यूजर्स को 2 जीबी फ्री क्लाउड स्टोरेज भी मिलता है। साथ ही Xstream Premium और Wynk Music सब्सक्रिप्शन, Hellotunes और FASTag ट्रांजैक्शन पर 150 रुपये का कैशबैक भी दिया जा रहा है।


Vodafone-Idea 2GB Data Plan


वोडाफोन और आइडिया के कस्टमर्स को कंपनी डबल डेटा बेनिफिट्स भी ऑफर कर रही है। कंपनी के 299 रुपये और 699 रुपये वाले प्लान में 28 दिन और 84 दिन की वैलिडिटी मिलेगी। इनमें 2 जीबी डेटा के अलावा 2 जीबी एक्सट्रा डेटा का भी फायदा मिलेगा। यानी रोज कुल 4 जीबी डेटा मिलेगा। इसके अलावा सभी नेटवर्क्स पर अनलिमिटेड कॉलिंग और रोज 100 फ्री मैसेज मिलेगा। ये प्लान वोडाफोन/आइडिया विडियो प्लैटफॉर्म्स और ZEE5 का सब्सक्रिप्शन भी ऑफर करते हैं।              


दुबे एनकाउंटर पर जांच कमेटी की गठित

नई दिल्ली।सुप्रीम कोर्ट में विकास दुबे एनकाउंटर मामले की सुनवाई के दौरान CJI ने उत्तरप्रदेश सरकार को आड़े हाथों लेते हुए विकास दुबे को पैरोल स्वीकृत होने पर हैरानी जताई है | CJI ने तल्ख़ टिप्पणी करते हुए पूछा कि आखिर इतने अधिक केस होने के बावजूद विकास दुबे को पैरोल कैसे स्वीकृत हो गई | CJI ने इसे सिस्टम की नाकामी बताते हुए कहा कि पूरा सिस्टम दांव पर है | उन्होंने मामले की जाँच के लिए एक कमेटी के गठन का निर्देश दिया | CJI ने कहा कि जांच कमेटी की सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज अध्यक्षता करेंगे |


विकास दुबे एनकाउंटर केस पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान गरमा गरम बहस भी हुई | इस दौरान सरकार की तरफ से एडवोकेट तुषार मेहता ने बताया कि मुठभेड़ सही थी | हालांकि, कोर्ट की तरफ से ये भी कहा गया कि राज्य सरकार कानून व्यवस्था बनाने के लिए जिम्मेदार है और इसके लिए ट्रायल होना चाहिए था | साथ ही कोर्ट ने कहा है कि जांच कमेटी में पूर्व SC जज और एक पुलिस अधिकारी हमारे होंगे | इस कमेटी को उत्तरप्रदेश ने भी अपनी मंजूरी दे दी है | मामले की अगली सुनवाई बुधवार को होगी |


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


 जुलाई 21, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-343 (साल-01)
2. मंगलवार, जुलाई-21, 2020
3. शक-1943, श्रावण,शुक्ल-पक्ष, तिथि- प्रतिपदा, विक्रमी संवत 2077।


4. सूर्योदय प्रातः 05:29,सूर्यास्त 07:23।


5. न्‍यूनतम तापमान 23+ डी.सै.,अधिकतम-36+ डी.सै.। भारी बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहींं है।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


www.universalexpress.in


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :-935030275


(सर्वाधिकार सुरक्षित)                       


दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...