शुक्रवार, 29 अप्रैल 2022

5 दिवसीय 'प्रशिक्षण कार्यक्रम' का समापन

5 दिवसीय 'प्रशिक्षण कार्यक्रम' का समापन  

बृजेश केसरवानी         
प्रयागराज। उप नियंत्रक, नागरिक सुरक्षा नरेन्द्र शर्मा ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया है कि 100 दिवसीय कार्ययोजना के अंतर्गत हवाई हमले/आपदा के दौरान बचाव हेतु नागरिक सुरक्षा विभाग द्वारा चलाये जा रहे 5 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुक्रवार को विकास भवन स्थित सरस केन्द्र में समापन हुआ। कार्यक्रम का शुभारम्भ अतिथियों का स्वागत चीफ वार्डन, डि0चीफ वार्डन व उपनियंत्रक द्वारा बुके एवं स्मृति चिन्ह भेट कर किया गया। तत्पश्चात् प्रशिक्षण अवधि में किये गये कार्यों का प्रेजेंटेशन दिया गया।
समापन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित मुख्य विकास अधिकारी शिपू गिरि द्वारा माघ मेला-2022 में उत्कृष्ट कार्य करने वाले तथा पुलिस लाइन में आयोजित गणतंत्र दिवस की परेड में सम्मिलित स्वयंसेवकों को प्रशस्ति प्रत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। सी.ओ कर्नलगंज चैहान द्वारा नागरिक सुरक्षा के वार्डन पदाधिकारियों के किये जा रहे सराहनीय कार्यों के साथ-साथ उम्मीद किया कि उक्त प्रशिक्षण प्राप्त करने से स्वयंसेवकों की प्रतिभा को और निखरने का अवसर प्राप्त होगा।

इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी ने अपने उद्बोधन में कहा कि उन्होंने प्रयागराज जनपद में पहली बार सिविल डिफेंस को इतना ऐक्टिव देखा है। साथ ही एन.डी.आर.एफ से प्राप्त प्रशिक्षण का सदुपयोग कर देश व समाज की सेवा के लिये सदैव तत्पर रहने का आहवाहन किया। उपनियंत्रक नरेन्द्र शर्मा ने बताया कि इस प्रशिक्षण के माध्यम से नागरिक सुरक्षा विभाग किसी भी हवाई हमले अथवा आपदा में प्रशासन को सहयोग करने में शांतिकाल में स्थानीय महत्व के कार्यों के साथ-साथ अहम भूमिका रखता है। चीफ वार्डन अनिल कुमार द्वारा अपने उद्बोधन में नागरिक सुरक्षा, प्रयागराज की विभिन्न सामरिक महत्व के कार्यक्रमों में प्रतिभाग की चर्चा करते हुये प्रसन्नता व्यक्त की व चलाये गये प्रशिक्षण कीे निरंतरता बनाये रखने का आश्वासन दिया। डिप्टी चीफ वार्डन सादिक हुसैन सिद्दीकी ने उक्त समापन कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य अतिथिगण एवं वार्डन/स्वयंसेवकों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुये प्राप्त प्रशिक्षण का उपयोग अपने निजी जीवन के साथ-साथ दूसरों के साथ भी साझा करने पर बल दिया। कार्यक्रम का सकुशल संचालन रौनक गुप्ता द्वारा किया गया। उक्त कार्यक्रम में लगभग 200 वार्डन/स्वयंसेवको ने प्रतिभाग किया।
इस अवसर पर वरिष्ठ सहायक उपनियंत्रक राकेश तिवारी, चीफ वार्डन अनिल कुमार, डिप्टी चीफ वार्डन सादिक हुसैन सिददीकी सहित प्रखण्डों के डिवीजनल/डि. डिवीजनल वार्डन, आई.सी.ओ, स्टाफ आफीसर, पोस्ट वार्डन, सेक्टर वार्डन सहित अन्य पदाधिकारीगण उपस्थित रहे।

मुख्य सचिव को निर्देश, समय पर पहुंचे अधिकारी

मुख्य सचिव को निर्देश, समय पर पहुंचे अधिकारी
पंकज कपूर   
देहरादून। गुड गवर्नेंस को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार को देहरादून में बैठक की। धामी ने अधिकारियों और कर्मचारियों की कार्यशैली में सुधार लाने की नसीहत दी है। धामी ने कहा कि उन्होंने मुख्य सचिव को निर्देश दिए हैं कि सभी अधिकारी कार्यालय में अपने तय समय पर पहुंचे, इसको सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए। बायोमेट्रिक अटैंडेंस को शुरू करने के लिए भी कहा गया है। सीएम धामी ने प्रदेश के कर्मचारियों को नसीहत देते हुए कहा कि मैं सभी अधिकारियों और कर्मचारियों से समय पर कार्यालय पहुंचने और तय समय तक काम करने की अपेक्षा करता हूं।

युवा नशे को शान समझता है, नाश का कारण

युवा नशे को शान समझता है, नाश का कारण
आदर्श श्रीवास्तव    
देवरिया। जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के आदेशानुसार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण देवरिया के तत्वावधान में जिला चिकित्सालय देवरिया के धनवन्तरी सभागार कक्ष में नशा मुक्ति उन्मूलन हेतु विधिक साक्षरता एवं जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सिविल जज (सीनियर डिवीजन)/प्रभारी सचिव न्यायाधीश शिवेन्द्र कुमार मिश्र रहें। न्यायाधीश शिवेन्द्र कुमार मिश्र द्वारा वहॉ उपस्थित आमजनमानस को विधिक जानकारियॉ देते हुये बताया गया कि आप नशा से हमेशा कोसों दूर रहें। नशा नाश हैं जीवन का इस कथन को उन्होंने चरितार्थ करते हुये कहा कि हमारे देश का उज्जवल भविष्य युवाओं पर टिका होता हैं। अगर देश की युवा पीढ़ी ही गलत रास्ते मे जाने लगे तो निश्चित ही उनका भविष्य अंधकार में चला जायेगा। हमारे देश के युवा वर्ग को जिन्दगी के हर पहलु को जीने की इच्छा होती हैं। युवा वर्ग नशे को अपनी शान समझते हैं। वे शराब, गुटखा, तम्बाकू, बीड़ी व सिगरेट का नशा करता हैं। उन्होंने यह भी बताया कि आज के परिवेश में विद्यालयों एवं महाविद्यालयों के बच्चों, गली के बच्चों, नगर झोपड़पट्टी के बच्चों, सुई से ड्रग लेने वाले परिवार, कैदियों, असंगठित क्षेत्रों में कार्य करने वाले, दवा बेचने वाले एवं आमजनमानस भी नशा के शिकार हैं जो हमारे समाज के लिए बहुत ही भयावह हैं। उन्होंने कहा कि नशा एक ऐसी बुराई हैं जो हमारे समूल जीवन को नष्ट कर देती हैं। नशे की लत से पीड़ित व्यक्ति परिवार के साथ समाज पर बोझ बन जाता हैं। युवा पीढ़ी सबसे ज्यादा नशे की लत से पीड़ित हैं। नशे का आदि व्यक्ति समाज की दृष्टि से हेय हो जाता हैं और उसकी सामाजिक क्रियाशीलता शून्य हो जाती हैं, फिर भी वह व्यसन को नही छोड़ता हैं। 
एक नशे के धुत में व्यक्ति अपनी मानसिक संतुलन खो देता हैं और पारिवारिक समस्याओं जैसे गंभीर अपराध कर बैठता हैं। हिंसा, बलात्कार, चोरी, आत्महत्या जैसे अनेक अपराधों के पीछे नशा एक बहुत बड़ी वजह हैं। न्यायाधीश द्वारा वहॉ उपस्थित चिकित्सक एवं समस्त आमजनमानस नशामुक्ति हेतु शपथ दिलाया गया तथा इसके साथ ही नशा उन्मूलन हेतु सभी को एक साथ आगे आने का आह्वान भी किया गया। इस दौरान न्यायाधीश द्वारा नशा उन्मूलन हेतु हस्ताक्षर अभियान की भी शुरूआत किया गया।

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 आलोक पाण्डेय, उप मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 पीयूष कलाधार चतुर्वेदी, डॉ विपिन रंजन, डॉ0 भावना सिंह, वर्षा सिंह, डॉ नेत्रिका पाण्डेय, अंजली श्रीवास्तव, एवं प्राथमिक स्वास्थ्य एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के वीसीपीएम, सीएचओ, एनसीडी स्टाफ, तथा वात्सल्य संस्था नशा मुक्ति केन्द्र से श्याम यादव उपस्थित रहें।

'पनीर टिक्का रोल' बनाने की रेसिपी, जानिए

'पनीर टिक्का रोल' बनाने की रेसिपी, जानिए    

सरस्वती उपाध्याय      

हर कोई चाहता है कि सुबह का ब्रेकफास्ट टेस्टी होने के साथ हेल्दी भी हो। खासतौर पर नाश्ता ऐसा हो जो बच्चों को पसंद भी आए और उनके लिए स्वास्थ्यवर्धक भी हो। इन दोनों ही पैमानों पर पनीर टिक्का रोल खरा उतरता नजर आता है। प्रोटीन से भरपूर 'पनीर टिक्का रोल' खाने में जितना स्वादिष्ट होता है, सेहत के लिए भी उतना ही फायदेमंद होता है। इसे बनाने के लिए मैदा के बजाय गेहूं के आटे का इस्तेमाल किया जाता है। आप भी अगर रूटीन ब्रेकफास्ट कर बोर हो चुके हैं और इसमें अब कुछ बदलाव लाना चाहते हैं तो 'पनीर टिक्का रोल' रेसिपी बना सकते हैं। इस रेसिपी को बनाना आसान है और ये मिनटों में ही तैयार हो जाती है।

'पनीर टिक्का रोल' बनाने के लिए सामग्री...

पनीर – 100 ग्राम
दही – 3 टेबलस्पून
प्याज – 1
शिमला मिर्च – 1/2
टमाटर – 1
भुना जीरा पाउडर – 1/2 टी स्पून
हल्दी पाउडर – 1/2 टी स्पून
लाल मिर्च पाउडर – 1 टी स्पून
धनिया पाउडर – 1 टी स्पून
चाट मसाला – 1/2 टी स्पून
काली मिर्च पाउडर – 1/2 टी स्पून
तेल – 1 टेबलस्पून
नमक – स्वादानुसार

रोल बनाने के लिए...

गेहूं का आटा – 1 कप
घी – 3 टी स्पून
टमाटर सॉस – 2 टी स्पून
नमक – स्वादानुसार

पनीर टिक्का रोल बनाने की विधि...
पनीर टिक्का रोल बनाने के लिए सबसे पहले एक बाउल में पनीर के छोटे-छोटे टुकड़े कर लेें। अब इसमें लाल मिर्ची पाउडर, धनिया पाउडर, हल्दी, काली मिर्च पाउडर डालकर सभी को पनीर के साथ अच्छी तरह से मिक्स कर दें। इसके बाद इसमें भुना जीरा, चाट मसाला और स्वादानुसार नमक भी मिला दें।अब पनीर में दही डाल दें और उसे अच्छी तरह से मिक्स कर 10 मिनट के लिए ढककर अलग रख दें।

अब एक मिक्सिंग बाउल लें और उसमें आटा डालकर 1 टी स्पून घी और चुटकी भर नमक मिलाकर थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए उसे अच्छे से गूंद लें। इसके बाद आटे को भी कुछ वक्त के लिए ढककर अलग रख दें। इस दौरान टमाटर, शिमला मिर्च और प्याज को लंबा और पतला काट लें। अब एक कड़ाही में तेल डालकर उसे गर्म करने के लिए मीडियम आंच पर रख दें, जब तेल गर्म हो जाए तो उसमें दही मसाले वाला पनीर डालकर पकाएं। 2 मिनट तक पकाने के बाद उसमें कटा प्याज, शिमला मिर्च और टमाटर डाल दें। इस मिश्रण को 1 मिनट तक पकाने के बाद गैस बंद कर दें।

अब आटे को लें और उसे एक बार और गूंद लें. इसके बाद उसकी लोइयां बना लें। अब एक लोई लें और उसे बड़ी रोटी की तरह बेल लें। इसके दोनों ओर घी लगाकर उसे तवे पर पराठे की तरह सेक लें। इसक बाद इस पराठे के ऊपरी हिस्से में सभी जगह टमाटर कैचअप लगा दें। इसके बाद पनीर टिक्का का तैयार मसाला इसके बीच में रखकर पराठे को रोल कर लें। इसी तरह सारी लोई के पराठे बनाकर रोल तैयार कर लें। ब्रेकफास्ट के लिए स्वादिष्ट पनीर टिक्का रोल बनकर तैयार हो चुका है।

मुंबई: एक्ट्रेस मलाइका ने अपनी सेल्फी शेयर की

मुंबई: एक्ट्रेस मलाइका ने अपनी सेल्फी शेयर की   

कविता गर्ग     

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा के लिए अप्रैल महीने की शुरूआत बेहद खराब रही। महीने के दूसरे दिन ही यानी 2 अप्रैल को उनकी कार का एक्सीडेंट हो गया था, जिसमें वह घायल हो गई थीं। आनन-फानन में उन्हें अस्पताल में भर्ती भी कराया गया था, लेकिन अच्छी बात ये रही थी कि इस हादसे में उन्हें ज्यादा चोट नहीं आई थी‌। अब हादसे के 26 दिनों के बाद उन्होंने अपनी एक सेल्फी शेयर की है। जिसमें फैंस उनके माथे पर लगी चोट को अच्छे से देख पा रहे हैं। मलाइका अरोड़ा ने 2 अप्रैल को हुए हादसे के बाद काम से कुछ समस के लिए ब्रेक ले लिया था। लेकिन अब चोट सही होने के बाद उन्होंने फिर काम पर वापसी कर ली है।

मलाइका सोशल मीडिया पर एक्टिव रहती हैं। चोट लगने के कुछ दिनों के बाद उन्होंने इस हादसे का बारे में फैंस को बताया था, लेकिन अपनी चोट नहीं दिखाई थी, अब उन्होंने एक सेल्फी शेयर की है, जिसमें उनकी चोट का निशान दिखाई दे रहा है।

मलाइका ने काम पर की वापसी...
एक्सीडेंट के बाद मलाइका ने काम से ब्रेक ले लिया था और अब काम पर वापसी कर चुकी हैं। मलाइका ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर अपनी तस्वीर शेयर की। जिसमें उनके माथे पर चोट के निशान नजर आ रहे हैं। मलाइका इससे पहले तक अपनी चोट को हमेशा छुपाती नजर आती रही हैं‌। अब पहली बार मलाइका ने ऐसी तस्वीर शेयर की, जिसमें माथे पर लगी चोट साफ नजर आ रही है।

सीमेंट प्लांट में गोलीबारी, 8 की मौंत, 11 घायल

सीमेंट प्लांट में गोलीबारी, 8 की मौंत, 11 घायल    

सुनील श्रीवास्तव     

मैक्सिको सिटी। मैक्सिको में हिडाल्गो प्रांत के तुला शहर में क्रूज अजुल सीमेंट प्लांट में गोलीबारी हुई। इसमें आठ लोगों की मौत हो गई और 11 अन्य घायल हो गए।शहर के गवर्नर उमर फयाद मेनेसेस ने बताया कि बुधवार तड़के कुछ अज्ञात बंदूकधारियों ने प्लांट पर कब्जा करने कोशिश की। जब यहां काम करने वाले वर्कर्स ने उनका विरोध किया तो गोलीबारी शुरू हो गई।उन्होंने अपने ट्विटर पेज पर लिखा- मैं तुला शहर में क्रूज अजुल प्लांट में हुई झड़प की कड़ी निंदा करता हूं, ताजा जानकारी के मुताबिक, आठ लोगों की मौत हो गई है। 11 घायल हो गए और नौ को हिरासत में लिया गया है। पुलिस इस घटना की जांच कर रही है। एक अधिकारी ने कहा कि शुरुआती जांच में पता चला है कि ये एक गैंगवार था। अभी तक इस गोलीबारी की असल वजह पता नहीं चल पाई है। माना जा रहा है कि गैंगवार को बदले की भावना के चलते अंजाम दिया गया है।

गैंगवार पहले भी हुआ था...
मार्च में, सेंट्रल मेक्सिको में 19 लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। घटना मिचोआकन राज्य के लास तिनाजस में एक फंक्शन के दौरान हुई। गोलीबारी में मरने वालों में से 16 पुरुष और तीन महिलाएं हैं। गोलीबारी में कई लोग घायल भी हुए थे। वहीं, फरवरी में भी मिचोआकन में एक बड़ा हमला हुआ था, जिसमें 17 लोगों की मौत हो गई थी। अधिकारियों का कहना है कि यह हमला दो गैंग्स के बीच चल रहे विवाद की वजह से हुआ था।

राज ठाकरे को जनसभा व भाषण की इजाजत

राज ठाकरे को जनसभा व भाषण की इजाजत 

कविता गर्ग  
मुंबई। औरंगाबाद पुलिस ने औरंगाबाद में राज ठाकरे को जनसभा और भाषण की इजाजत दे दी है। मनसे प्रमुख राज ठाकरे 30 अप्रैल को सुबह करीब 8 बजे पुणे से रवाना होंगे। महाराष्ट्र नव निर्माण सेना (मनसे) नेता बाबू वागास्कर ने इंडिया टुडे/आजतक को बताया कि राज ठाकरे के काफिले में करीब 150 वाहन, कारें, एसयूवी होंगी। ठाकरे को ये अनुमति सशर्त दी गई है। ‘महाराष्ट्र में योगी नहीं भोगी हैं’ उत्तर प्रदेश में योगी सरकार द्वारा लाउडस्पीकर के खिलाफ अभियान जारी है।
धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाए जा रहे हैं, या उनकी आवाज कम की जा रही है। इस पर राज ठाकरे ने सीएम योगी की तारीफ की है। उन्होंने कहा, यह दुर्भाग्य है कि महाराष्ट्र में जो हैं वे योगी नहीं, भोगी हैं। राज ठाकरे ने ट्वीट में लिखा, धार्मिक स्थलों विशेषकर मस्जिदों से लाउडस्पीकरों को हटाने के लिए मैं योगी सरकार को तहे दिल से बधाई देता हूं और आभारी हूं। उन्होंने कहा, दुर्भाग्य है कि महाराष्ट्र में कोई योगी नहीं है। लेकिन यहां सभी भोगी हैं।
उत्तर प्रदेश में योगी सरकार द्वारा लाउडस्पीकर के खिलाफ अभियान जारी है। धार्मिक स्थलों से लाउडस्पीकर हटाए जा रहे हैं, या उनकी आवाज कम की जा रही है। इस पर राज ठाकरे ने सीएम योगी की तारीफ की है। उन्होंने कहा, यह दुर्भाग्य है कि महाराष्ट्र में जो हैं वे योगी नहीं, भोगी हैं। राज ठाकरे ने ट्वीट में लिखा, धार्मिक स्थलों विशेषकर मस्जिदों से लाउडस्पीकरों को हटाने के लिए मैं योगी सरकार को तहे दिल से बधाई देता हूं और आभारी हूं। उन्होंने कहा, दुर्भाग्य है कि महाराष्ट्र में कोई योगी नहीं है। लेकिन यहां सभी भोगी हैं।
महाराष्ट्र में भी लाउड स्पीकर पर सियासत पिछले दिनों से महाराष्ट्र में भी लाउड स्पीकर पर सियासत जारी है। हाल ही में राज ठाकरे ने मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने को लेकर अल्टीमेटम जारी किया था पिछले दिनों मुंबई में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राजठाकरे ने कहा था, ‘मस्जिदों में लाउडस्पीकर इतनी तेज आवाज में क्यों बजाए जाते हैं। अगर इसे नहीं रोका गया तो मस्जिदों के बाहर स्पीकर पर अधिक तेज आवाज में हनुमान चालीसा बजाया जाएगा। ठाकरे ने आगे कहा कि वह किसी विशेष धर्म की प्रार्थना के खिलाफ नहीं है, लेकिन उन्हें सिर्फ अपने धर्म पर ही गर्व है।

'ग्लोबल पाटीदार बिजनेस समिट' का उद्घाटन

'ग्लोबल पाटीदार बिजनेस समिट' का उद्घाटन 

इकबाल अंसारी
सूरत। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को गुजरात के सूरत में ग्लोबल पाटीदार बिजनेस समिट का उद्घाटन किया। यह कार्यक्रम सरदारधाम द्वारा आयोजित किया जा रहा है।पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत के पास इतना कुछ है। हमें बस अपने आत्मविश्वास को, आत्मनिर्भरता के अपने जज्बे को मज़बूत करना है। ये आत्मविश्वास तभी आएगा जब विकास में सबकी भागीदारी होगा, सबका प्रयास लगेगा।
उन्होंने आगे कहा कि देश को जब आजादी मिली थी तब सरदार साहब ने जो कहा था कि भारत में संपदा की कोई कमी नहीं है। हमें बस अपने दिमाग और संसाधनों को इनके सदुपयोग के लिए लगाना होगा। आजादी के मुकाबले में आने वाले 25 वर्षों के लिए जब हम संकल्प के लिए निकले हैं तो हमें सरदार साहब के इन शब्दों को कभी भूलना नहीं चाहिए।
मोदी ने कहा अपनी नीतियों, अपने एक्शन के माध्यम से सरकार का ये निरंतर प्रयास है कि देश में ऐसा माहौल बने कि सामान्य से सामान्य परिवार का युवा भी उद्यमी बने, उसके लिए के सपने देखे, उद्यमिता पर गर्व करे। आधुनिक कनेक्विटी के इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास, नए शहरों के निर्माण, पुराने शहरों में स्मार्ट सुविधाएं विकसित करने, पुराने नियमों-कायदों से देश को मुक्त करने और इनोवेशन व आइडिया की हैंड-हॉल्डिंग, ऐसे सभी कामों पर एकसाथ काम किया जा रहा है।
मुद्रा योजना आज देश के उन लोगों को अपना बिजनेस करने का हौसला दे रही है जो कभी इसके बारे में सोचते भी नहीं थे। स्टार्ट-अप इंडिया से वो इनोवेशन, वो टैलेंट में भी आज यूनिकार्न के सपने साकार होते देख रहा है जिसको कभी रास्ता नहीं दिखता था। पीएलआई योजना ने पुराने सेक्टरों में तो मेक इन इंडिया का उत्साह तो भरा ही है, सेमीकंडक्टर जैसे नए सेक्टर्स के विकास की संभावनाएं भी बनी हैं।
पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल की अभूतपूर्व चुनौतियों के बावजूद देश में MSME सेक्टर आज तेजी से विकास कर रहा है। लाखों करोड़ रुपये की मदद देकर MSME से जुड़े करोड़ों रोजगार बचाए गए और आज ये सेक्टर नए रोजगार का आज तेजी से निर्माण कर रहा है। छोटे से बड़े हर व्यवसाय, हर कारोबार का देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान है। सबका प्रयास की यही भावना तो अमृतकाल में देश की ताकत बन रही है। मुझे खुशी है कि इस बार के समिट में आप इस विषय पर विस्तार से चर्चा कर रहे हैं।
उन्होंने आगे कहा कि रेहड़ी-पटरी पर छोटा सा व्यापार करने वाला देशवासी आज भारत की ग्रोथ स्टोरी से अपने आप को जुड़ा महसूस करता है। पहली बार रेहड़ी-पटरी वालों को भी पीएम स्वनिधि योजना से फॉर्मल बैंकिंग सिस्टम में भागीदारी मिली है। हाल ही में हमारी सरकार ने इस योजना को दिसंबर 2024 के लिए बढ़ा दिया है।
तीन दिन तक चलेगा कार्यक्रम
तीन दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन 29 अप्रैल से 1 मई तक होगा। सरदारधाम पाटीदार समुदाय के सामाजिक और आर्थिक विकास को गति प्रदान करने के लिए ‘मिशन 2026’ के तहत जीपीबीएस का आयोजन कर रहा है। यह शिखर सम्मेलन हर दो साल में आयोजित किया जाता है। पहले दो शिखर सम्मेलन 2018 और 2020 में गांधीनगर में आयोजित किए गए थे और वर्तमान शिखर सम्मेलन अब सूरत में आयोजित हो रहा है।
जीपीबीएस 2022 का मुख्य विषय ‘आत्मनिर्भर समुदाय से आत्मनिर्भर गुजरात और भारत’ रखा गया है। शिखर सम्मेलन का उद्देश्य समुदाय के भीतर छोटे, मध्यम और बड़े उद्यमों को एक साथ लाना है। साथ ही नए उद्यमियों का पोषण और समर्थन करना और शिक्षित युवाओं को प्रशिक्षण और रोजगार सहायता प्रदान करना है। तीन दिवसीय शिखर सम्मेलन में सरकारी औद्योगिक नीति, एमएसएमई, स्टार्ट-अप, नवाचार, के विभिन्न पहलुओं को शामिल किया गया है।

रेप के आरोपी तांत्रिक को गिरफ्तार किया

21 वर्षीय युवती से रेप, तांत्रिक अरेस्ट किया  

दुष्यंत टीकम
उज्जैन। महाकाल की नगरी उज्जैन में 21 साल की लड़की के साथ रेप का मामला सामने आया है। जहां एक तांत्रिक ने जादू-टोने के चक्कर में युवती से दुष्कर्म किया। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने आरोपी तांत्रिक को गिरफ्तार कर लिया है और मामले की जांच कर रही है।

ऐसे दिया घटना को अंजाम...
21 साल की पीड़िता मानसिक तौर पर कमजोर है। उसकी मां दिमाग तेज कराने के लिए अपनी बेटी को तांत्रिक के पास लेकर गई थी। इस दौरान आरोपी ने मां को बहाने से कमरे से बाहर निकाला दिया और लड़की के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया।
पीड़िता की मां का कहना है कि उनकी बेटी दिमाग से थोड़ी कमजोर है। इलाज के लिए देवास के एक व्यक्ति से उसने संपर्क किया था, जो झाड़-फूंक का काम करता है। जब वो अपनी बेटी को तांत्रिक के पास लेकर गई तो उसने बताया कि बेटी पर भूत-प्रेत का साया है, यह बोलकर उसे कमरे से बाहर निकाल दिया और दरवाजा बंद कर दिया। वो बेटी के ठीक होने का इंतजार करती रही।
पीड़िता की मां का आरोप है कि कमरे में उनकी बेटी को नशे की गोलियां खिलाकर बेसुध किया, फिर रेप की घटना को अंजाम दिया। साथ ही लड़की को होश में आने के बाद ठीक होने का हवाला भी दिया। होश आने पर लड़की ने पूरी घटना अपनी मां को बताई और उसके होश उड़ गए। तुरंत ही इसकी शिकायत थाने की गई और पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

सैकड़ों फरियादियों की भीड़ देख, भड़कें सीएम

सैकड़ों फरियादियों की भीड़ देख, भड़कें सीएम

संदीप मिश्र
गोरखपुर। जनता दर्शन में सैकड़ों फरियादियों की भीड़ देखकर सीएम योगी भड़क गए और अधिकारियों से पूछा कि क्या तहसील, थानों में फरियादियों को न्याय नही मिल रहा है ? तहसील और थाने पर लोगों को न्याय नहीं मिल रहा क्या? आखिर इतनी बड़ी संख्या में लोगों को मेरे तक आने की जरूरत क्यों पड़ रही। यह स्थिति ठीक नहीं। इसमें सुधार नहीं आया तो कार्रवाई के लिए तैयार रहिए। शुक्रवार को गोरखनाथ मंदिर के हिंदू सेवाश्रम में अपनी समस्या कहने के लिए उमड़ी भीड़ को देखकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का धैर्य जवाब और उन्होंने यह हिदायत अफसरों को दे डाली। मुख्यमंत्री ने करीब 100 लाेगों की समस्या खुद सुनी और बाकी लोगों की समस्या डीएम और एसएसपी ने उनके निर्देश पर सुनी। शुक्रवार को जनता दर्शन में करीब 600 लोग अपनी समस्या के निस्तारण के लिए गोरखनाथ मंदिर पहुंचे हुए थे। गुरुवार की शाम गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री की सुबह की दिनचर्या परंपरागत रही। 
तड़के अपने आवास से निकलने के बाद सबसे पहले उन्होंने बाबा गोरखनाथ के दरबार में जाकर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच दर्शन-पूजन किया। इसी क्रम में उन्होंने अपने दादा गुरु ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधिस्थल पर जाकर उनका आशीर्वाद लिया। हमेशा की तरह मंदिर परिसर के भ्रमण के क्रम वह गोशाला गए। वहां वह करीब आधा घंटा रहे, इस दौरान उन्होंने गायों को दुलारा-पुचकारा और अपने हाथ से गुड़-चना खिलाया। वहीं सीएम योगी हिंदू सेवाश्रम पहुंचे, जहां बड़ी संख्या में लोग अपनी समस्या कहने के लिए उनका इंतजार कर रहे थे। संख्या काफी थी, सो मुख्यमंत्री ने 100 लोगों से सीधे मुलाकात की और बाकी लोगों का समस्यात्मक पत्र लेने के लिए डीएम और एसएसपी को निर्देशित कर दिया। जनता दर्शन में ज्यादातर मामले जमीन-जायदाद से जुड़े थे, जिसे मुख्यमंत्री ने स्थानीय स्तर पर निपटाने का निर्देश अधिकारियों को दिया। जनता दर्शन के बाद मुख्यमंत्री जब मंदिर कार्यालय की ओर आए तो वहां भी करीब 100 लोग उनसे मिलने का इंतजार कर रहे थे।
जनता दर्शन मे सैकड़ों फरियादियों की भीड़ देख सीएम योगी भड़क गए और अधिकारियों से पूछा कि क्या तहसील, थानों में फरियादियों को न्याय नही मिल रहा है। तहसील और थाने पर लोगों को न्याय नहीं मिल रहा क्या? आखिर इतनी बड़ी संख्या में लोगों को मेरे तक आने की जरूरत क्यों पड़ रही। यह स्थिति ठीक नहीं। इसमें सुधार नहीं आया तो कार्रवाई के लिए तैयार रहिए। शुक्रवार को गोरखनाथ मंदिर के हिंदू सेवाश्रम में अपनी समस्या कहने के लिए उमड़ी भीड़ को देखकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का धैर्य जवाब दे गया और उन्होंने यह हिदायत अफसरों को दे डाली। मुख्यमंत्री ने करीब 100 लाेगों की समस्या खुद सुनी और बाकी लोगों की समस्या डीएम और एसएसपी ने उनके निर्देश पर सुनी। शुक्रवार को जनता दर्शन में करीब 600 लोग अपनी समस्या के निस्तारण के लिए गोरखनाथ मंदिर पहुंचे हुए थे। गुरुवार की शाम गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री की सुबह की दिनचर्या परंपरागत रही। तड़के अपने आवास से निकलने के बाद सबसे पहले उन्होंने बाबा गोरखनाथ के दरबार में जाकर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच दर्शन-पूजन किया। इसी क्रम में उन्होंने अपने दादा गुरु ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ और गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधिस्थल पर जाकर उनका आशीर्वाद लिया। हमेशा की तरह मंदिर परिसर के भ्रमण के क्रम वह गोशाला गए। वहां वह करीब आधा घंटा रहे, इस दौरान उन्होंने गायों को दुलारा-पुचकारा और अपने हाथ से गुड़-चना खिलाया। वहीं सीएम योगी हिंदू सेवाश्रम पहुंचे, जहां बड़ी संख्या में लोग अपनी समस्या कहने के लिए उनका इंतजार कर रहे थे। संख्या काफी थी, सो मुख्यमंत्री ने 100 लोगों से सीधे मुलाकात की और बाकी लोगों का समस्यात्मक पत्र लेने के लिए डीएम और एसएसपी को निर्देशित कर दिया। जनता दर्शन में ज्यादातर मामले जमीन-जायदाद से जुड़े थे, जिसे मुख्यमंत्री ने स्थानीय स्तर पर निपटाने का निर्देश अधिकारियों को दिया। जनता दर्शन के बाद मुख्यमंत्री जब मंदिर कार्यालय की ओर आए तो वहां भी करीब 100 लोग उनसे मिलने का इंतजार कर रहे थे।

ई-रिक्शा का रूट-रंग तय करने की कवायद शुरू

ई-रिक्शा का रूट-रंग तय करने की कवायद शुरू 

भानु प्रताप उपाध्याय         
मुजफ्फरनगर। शहर की यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए पुलिस ने फिर से ई-रिक्शा का रूट और रंग तय करने की कवायद शुरू कर दी है। रिक्शा चालकों को यातायात कार्यालय बुलाकर बात की जाएगी। यातायात व्यवस्था को लेकर आए दिन व्यापारी अपनी नाराजगी जाहिर कर रहे हैं। मुख्य मार्गों पर पुलिस ने बेरिकेडिंग कर दी है। कई बाजारों तक ग्राहकों को पहुंचने में मशक्कत करनी पड़ रही है।पुलिस ने व्यापारियों के साथ कई दौर की बातचीत की, जिसके बाद चार बिंदु तय किए गए हैं। ई-रिक्शा के मार्गों का निर्धारण और रंग तय करना।
रजिस्टर्ड ई-रिक्शाओं के चालकों को प्रोत्साहित किया जाना व शहर की यातायात व्यवस्था को बेहतर बनाना।यातायात पुलिस अधीक्षक कुलदीप सिंह का कहना है कि इन बिंदुओं पर यातायात पुलिस की तैयारी चल रही है। 
शहर के ई-रिक्शा चालकों को यातायात कार्यालय बुलाया गया है। चालकों से बातचीत की जाएगी और उन्हें रूट और रंग के विषय में जानकारी दी जाएगी। जाम रोकने के लिए भी उनसे सहयोग मांगा जाएगा। व्यापारियों ने जो सुझाव दिए हैं, उन पर भी विचार कर कार्ययोजना बनाई गई है।

5 से 11 साल तक के बच्चों को लगेगा टीका

5 से 11 साल तक के बच्चों को लगेगा टीका

भानु प्रताप उपाध्याय  
शामली। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए अब 5 साल से 11 साल तक के बच्चों को कोरोनारोधी वैक्सीन का टीका लगाया जाएगा। बच्चों को वैक्सीन का टीका लगाने की मंजूरी मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग इस आयु के बच्चों का अपने स्तर पर डाटा जुटाने में लग गया है। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि शासन की गाइड लाइन जारी होते ही बच्चों को टीके लगाने की शुरूआत कर दी जाएगी।कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण ही सुरक्षित कवच माना गया है। कोरोना से बचने के लिए टीकाकरण जरूरी है। सरकार ने अस्पतालों में कोरोनारोधी टीके नि:शुल्क लगाने की व्यवस्था की है। लोगों में भी कोरोनारोधी वैक्सीन का टीका लगवाने को जागरूकता आई है। 
युवा और बुजुर्गों को टीकाकरण के बाद इसी साल तीन जनवरी से 15 से 17 साल के किशोरों को टीकाकरण की शुरूआत हुई। दूसरी लहर में कोरोना का कहर देख चुके लोगों ने किशोरों को टीके लगवाने में रुचि दिखाई थी और उत्साह के साथ तेजी से टीकाकरण हुआ। एक माह में इस आयु के किशोरों को टीकाकरण लक्ष्य के करीब पहुंच गया था। स्वास्थ्य विभाग ने जिले में इस आयु के 95970 लोगों को टीके लगाने का लक्ष्य रखा था। बुधवार तक 99463 किशोरों को टीके की पहली डोज लग चुकी हैं जो लक्ष्य का 103.64 प्रतिशत है। इसी आयु के 88318 किशोरों को दूसरी डोज लग चुुकी है। जो पहली डोज का 92.03 प्रतिशत है। 16 मार्च को 12 से 14 साल के किशोरों को टीकाकरण की शुरूआत की गई। शुरूआत में टीकाकरण की गति धीमी रही, लेकिन बाद में अभिभावकों ने उत्साह दिखाया और अपने किशोर उम्र के बच्चों को टीके लगवाएं। जिले में स्वास्थ्य विभाग ने 57963 किशोरों को टीके लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया। अब तक 30848 किशोरों को पहली डोज लगी है, जो लक्ष्य का 53.22 प्रतिशत है। 169 किशोरों को दूसरी डोज का टीका लगा है। कुल मिलाकर टीकाकरण को लेकर लोगों में उत्साह बना हुआ है।टीकाकरण 16 जनवरी 2021 को कोरोनारोधी टीकाकरण नि:शुल्क शुरू हुआ था। सबसे पहले स्वास्थ्यकर्मियों को टीकाकरण हुआ। इसके बाद अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों को टीके लगाए गए। इसके कुछ समय बाद 60 साल से अधिक आयु के बुजुर्ग और 45 वर्ष से अधिक आयु के बीमार लोगों को टीकाकरण किया गया। इसके बाद 18 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को टीके लगाए गए। इस साल तीन जनवरी से 15 से 17 साल के किशोरों को और 16 मार्च को 12 से 14 साल के किशोरों को टीकाकरण की शुरूआत हुई। इसी साल जनवरी में स्वास्थ्यकर्मियों, अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों और 60 साल से अधिक बुजुर्गों को सतर्कता डोज लगाने की शुरूआत हुई है। पांच से 11 साल तक के बच्चों को कोरोनारोधी टीका लगाने को मंजूरी मिल चुकी है, लेकिन टीकाकरण के संबंध में अभी शासन की तरफ से गाइड लाइन नहीं मिली है। बच्चों का डाटा जुटाया जा रहा है। शासन के दिशा निर्देश मिलते ही बच्चों को टीके लगाना शुरू किया जाएगा।

ग्रामीण क्षेत्रों में 8 घंटे तक 'बिजली' कटौती

ग्रामीण क्षेत्रों में 8 घंटे तक 'बिजली' कटौती 

भानु प्रताप उपाध्याय 
शामली। भीषण गर्मी के बीच बिजली की कटौती लोगों का पसीना छुड़ा रही है। शहर में जहां फाल्ट और ट्रिपिग से मुश्किल बढ़ गई हैं। वहीं देहांत में हाल और भी ज्यादा खराब है। शहरी इलाकों में 6 घंटे तो ग्रामीण क्षेत्रों में 8 घंटे तक बिजली कटौती हो रही है। किसानों के सामने भी सिंचाई का संकट खड़ा हो रहा है। उपभोक्ताओं को कटौती के साथ ही लो वोल्टेज से भी जूझना पड़ रहा हैं। हालांकि अफसरों का दावा है कि बिजली आपूर्ति शेडयूल के हिसाब से चल रही है।जिले में बिजली आपूर्ति गड़बड़ा रही है। भीषण गर्मी के बीच हो रही कटौती से ग्रामीण व शहरी इलाकों के साथ ही सिंचाई व्यवस्था भी प्रभावित हो रही है।
जनपद में 92 बिजलीघरों के माध्यम से आपूर्ति होती है। 
अभी तक पुराने शेडयूल पर ही विद्युत आपूर्ति दी जा रही है। ऊर्जा निगम की ओर से जारी शेडयूल में जिला मुख्यालय पर 24 घंटे आपूर्ति का दावा है, लेकिन 18 घंटे भी मुश्किल ही आपूर्ति मिल पा रही है। 
वहीं तहसील स्तर पर 20 घंटे, ग्रामीण एरिया में 18 व एग्रीकल्चर फीडर पर 10 घंटे शेडयूल के हिसाब से दी जा रही है, लेकिन सचाई यही है कि सभी क्षेत्रों में बिजली कटौती हो रही है। बिजली फाल्ट व मरम्मत कार्य चलता रहता है। ऐसे में मेंटीनेंस के नाम पर समय से अधिक की कटौती की जा रही है। यदि कहीं दो घंटे में मरम्मत कार्य पूरा होता है तो वहां भी तीन घंटे तक आपूर्ति बाधित रहती है। हालांकि अफसरों का दावा है कि छोटे फाल्ट के दो घंटे और फाल्ट बड़ा हो तो अधिकतम 24 घंटे में आपूर्ति सुचारू की जाती है। लाइन पर मरम्मत कार्य के कारण पहले ही उपभोक्ताओं को सूचना दी जाती है। पुराने शेडयूल पर ही आपूर्ति ऊर्जा निगम के अधिशासी अभियंता ब्रह्मपाल सिंह के मुताबिक, बिजली के शेड्यूल में कोई बदलाव नहीं किया गया है, शेडयूल के हिसाब से जिला मुख्यालय पर 24 घंटे आपूर्ति है। 
तहसील स्तर पर 20 घंटे व ग्रामीण एरिया में 18 घंटे आपूर्ति चल रही है। एग्रीकल्चर फीडर पर 10 घंटे बिजली मिल रही है। कटौती के कोई आदेश नहीं है। बिजली आपूर्ति सुचारू तरीके से चल रही है। इन ट्रांसमिशन बिजलीघरों से हो रही विद्युत सप्लाई जिले में 34021 नलकूप उपभोक्ता है। बिजली कटौती से खेतों की सिचाई प्रभावित हो रही है। भाकियू जिलाध्यक्ष कपिल खाटियान ने बताया कि इस मौसम में गन्ना व चारे की फसल को सिचाई की आवश्यकता है, लेकिन बिजली कटौती से सिचाई नहीं हो पा रही है। जिले के सवा लाख से अधिक किसानों को मुश्किलें हो रही है। नहीं कराई बेहतर लापिग-चापिग जिले में लाइनों के नजदीक से गुजर रहे पेड़ों की कटाई-छंटाई करानी होती है, लेकिन महकमे ने इस ओर कोई खास दिलचस्पी नहीं ली है। यही वजह है कि आए दिन पेड़ लाइन पर टूटकर गिर जाते है और बिजली आपूर्ति बाधित होती है। गुरुवार को जिला अस्पताल के निकट पेड़ की डाली टूटकर लाइन पर गिर गई। इससे आपूर्ति बाधित हुई है। हालांकि अधिकारियों ने इसे तेजी से ठीक करा दिया।

रोष: असामाजिक तत्वों ने मूर्ति को खंडित किया

रोष: असामाजिक तत्वों ने मूर्ति को खंडित किया

भानु प्रताप उपाध्याय
मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में असामाजिक तत्वों ने शुक्रवार को माहौल बिगाड़ने का प्रयास किया। यहां बधाई खुर्द गांव में जाहरवीर गोगा म्हाड़ी मूर्ति को खंडित कर दिया गया। घटना से लोगों में रोष फैल गया। सैकड़ों की संख्या में लोग मौके पर एकत्र हो गए।सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच पड़ताल की। क्षेत्रवासियों ने पुलिस से आरोपियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने और नई मूर्ति स्थापित कराने की मांग की।
वहीं, पुलिस ने शाम तक नई मूर्ति लगवाने और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई कराने का आश्वासन देकर लोगों को शांत किया। जानकारी के अनुसार गांव बधाई खुर्द में आबादी क्षेत्र से कुछ दूरी पर जाहरवीर गोगा म्हाड़ी का मंदिर हैं। कुछ असामाजिक तत्वों ने मंदिर में मूर्ति को खंडित कर दिया।
सुबह ग्रामीणों को जब घटना की जानकारी लगी तो ग्रामीणों में रोष फैल गया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और जानकारी ली।शहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक आनंद देव मिश्रा के अनुसार मंदिर खेतों की तरफ बना हुआ है। इसलिए रात में मंदिर में कोई नहीं रहता है। इसी दौरान किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा जाहरवीर गोगा की मूर्ति को खंडित कर दिया गया है। बताया कि शरारती तत्वों की गिरफ्तारी के लिए दो टीमें गठित कर दी गई हैं। जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। श्रदद्धालुओं की भावनाओं को देखते हुए तुरंत नई मूर्ति की व्यवस्था की जा रही है। जल्द ही नई मूर्ति की स्थापित की जाएगी।

डीजे पर डांस, बारातियों को बनाया बंधक

डीजे पर डांस, बारातियों को बनाया बंधक

सत्येंद्र पंवार
मेरठ। डीजे पर डांस करने को लेकर बरातियों और मोहल्ले के ही कुछ युवकों का विवाद हो गया। आरोप है कि युवकों ने बरातियों को बंधक बना लिया और लोहे की राड से पिटाई की। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बंधनमुक्त कराया। पीडि़तों ने तहरीर दे दी थी।भावनपुर थाना क्षेत्र के छिलौरा गांव निवासी युवक की शादी ब्रह्मपुरी की एकता कालोनी निवासी युवती से तय हुई थी। बुधवार को बरात आई थी। चढ़त के बाद देर रात बराती डीजे पर डांस कर रहे थे। इस दौरान उनका मोहल्ले के ही कुछ युवकों से विवाद हो गया। आरोप है कि युवकों ने अपने दोस्तों को बुला लिया और बरातियों को बंधक बना लिया। इस दौरान उनको लोहे की राड से भी पीटा। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बरातियों को बंधनमुक्त कराया। आरोपित युवक फरार हो गए।
मारपीट में ब्रह्मजीत, रोहन, संजय, राजेश, आशु व दो-तीन अन्य युवक घायल हो गए थे। पुलिस ने ही उनका उपयार कराया था, जिसके बाद उन्होंने मोहल्ले के ही अज्ञात युवकों के खिलाफ तहरीर दी। थाना प्रभारी ने बताया कि डांस करने को लेकर विवाद हुआ था। तहरीर के आधार पर युवकों की पहचान कर कार्रवाई की जाएगी।लोगों का आरोप, बरातियों ने की अभद्रता घटना के बाद जब पुलिस ने आसपास के लोगों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि बराती ही डांस के दौरान अभद्रता कर रहे थे। लोगों ने विरोध किया तो गाली-गलौज शुरू कर दी थी। इसके चलते ही दोनों पक्षों में मारपीट हो गई थी।मारपीट की घटना के बाद शादी भी प्रभावित हो गई थी। पुलिस ने बरातियों को निकाला और घरातियों को भी भेज दिया था। इसके बाद लड़के पक्ष के करीबी और लड़की पक्ष के करीबी लोगों की मौजूदगी में ही सुबह पांच बजे फेरे हुए। इसके बाद दूल्हा-दुल्हन रवाना हुए।

सफर: 8 घंटे में मेरठ से प्रयागराज की दूरी तय

सफर: 8 घंटे में मेरठ से प्रयागराज की दूरी तय 
सत्येंद्र पंवार  
मेरठ। मेरठ से प्रयागराज की दूरी मात्र 8 घंटे में पूरी होगी। जी हां सही सुना आपने। आपको बता दें कि गंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य शुरू कर दिया गया है और अब इंजीनियरों के द्वारा जल्द से जल्द इसका निर्माण कार्य पूरा करने का प्रयत्न किया जा रहा है।
आपको बता दें कि अडानी ग्रुप के इंजीनियरों के द्वारा गंगा एक्सप्रेस वे के निर्माण का कार्य किया जा रहा है। गंगा एक्सप्रेस वे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का ड्रीम प्रोजेक्ट है।
इसका निर्माण मेरठ से प्रयागराज तक किया जाएगा जोकि बदायूं की 4 तहसील और 85 गांवों से होकर गुजरेगा। आपको बता दें कि गंगा एक्सप्रेसवे के लगभग 9 किलोमीटर दूरी बदायूं में तय की जाएगी। इस एक्सप्रेस-वे के माध्यम से लगभग 8 घंटे में मेरठ से प्रयागराज की दूरी तय की जा सकेगी।
भूमि अधिग्रहण के लिए किसानों को दिए 945 करोड़ रुपए-
गंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण कार्य काफी तेजी से किया जा रहा है।वहीं इसके निर्माण के लिए विनावर के गांव भेसामई में मशीनें भी पहुंच गई है और भूमि समतलीकरण का काम भी शुरू हो गया है। शासन के द्वारा भूमि अधिग्रहण के लिए 945 करोड रुपए किसानों को दिया गया है।
भूमि को उत्तर प्रदेश सरकार ने हाईवे डवलपमेंट आथॉरिटी को हैंडओवर कर दिया गया है। बता दें कि गंगा एक्सप्रेस वे का सबसे अधिक दूरी बदायूं जनपद से होकर गुजरेगी। यूपी के 84 गांव से होकर यह एक्सप्रेस-वे गुजरेगा।

यूपी: अलविदा की नमाज अदा, शांति बनी रही

यूपी: अलविदा की नमाज अदा, शांति बनी रही
हरिओम उपाध्याय  
मेरठ। वेस्‍ट यूपी में मेरठ सहित सभी जिलों में शु्क्रवार को अलविदा जुमे की नमाज अदा की गई। इस दौरान शांति बनी रही। सड़कों पर नमाज अदा नहीं करने के फरमान का पूरी तरह से पालन किया गया। मस्जिदों के आसपास भारी संख्‍या में पुलिस बल और आरएएफ के जवान तैनात रहे। मेरठ में शाही जामा मस्जिद के भीतर की नमाज अदा की गई। बाहर सड़क पर सुरक्षा के प्रबंध रहेशाही जामा मस्जिद समेत शहर की सभी प्रमुख मस्जिदो में अलविदा जुमे की नमाज अदा की गयी। इमलियान और जामा मस्जिद के बाहर लोगों ने नमाज अदा नहीं की। मस्जिद परिसर के अंदर ही लोगों ने नमाज अदा की। शाही जामा मस्जिद में भारी संख्या में पुलिस बल और आरएएफ के जवान मौजूद रहे। शहर काजी जैनुस साजिदीन ने कहा ईद की नमाज पूर्व की तरह ईदगाह में 7.45 बजे होगी। कहा एक माह के रमजान के बाद खुले मैदान में नमाज पढ़ने का बड़ा सवाब होता है। उन्होंने कहा कि ईदगाह भरने के बाद भी अगर लोग शेष बचते हैं तो वह सड़कों पर नमाज अदा कर सकेंगे पर इस बात का ध्यान रखना होगा कि इससे दूसरे लोगों को परेशानी न हो। नमाज के बाद दुआ कराई गई। के कड़े इंतजाम
दूसरी ओर बागपत में अलविदा जुमे पर कड़े सुरक्षा बंदोबस्तों के बीच अकीदतमंदों ने नमाज अदा की। जारी हुए आदेश के बाद इस बार मस्जिद के भीतर ही नमाज अदा की गई। बड़ौत की फूंस वाली मस्जिद पर एसडीएम और सीओ भी मौजूद रहे। मुजफ्फरनगर के खतौली में अलविदा जुमे की नमाज को लेकर एसडीएम जीत सिंह राय, सीओ राकेश कुमार, इंस्पेक्टर संजीव कुमार ने व्यवस्था को परखा और अक़ीक़तमदों से बातचीत भी की। वहीं मुज़फ्फरनगर में अलविदा जुमे की नमाज को लेकर पुलिस अलर्ट पर रही।
एसएसपी ने सड़क पर नमाज न पढ़ने की हिदायत दी हुई है। इसी क्रम में शुक्रवार अलविदा जुमे की नमाज से पूर्व एसएसपी अभिषेक यादव ने खुद क्षेत्र में जाकर स्थिति का जायजा लिया। एसएसपी ने अलविदा जुमा व आगामी ईद को सकुशल सम्पन्न कराने तथा सौहार्दपूर्ण वातावरण बनाये रखने के निर्देश दिए थे। एसएसपी ने ड्यूटी पॉइंट चेक किए और फोर्स को अलर्ट पर रहने का आदेश दिया। एसएसपी ने शरारती तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करने और हर छोटी बड़ी सूचना अधिकारियों के देने के लिए कहा।
ईदगाह और मस्जिद में अदा करें नमाज मुफ्ती उस्मान
इसके पूर्व मुजफ्फरनगर में खतौली की मरकज मस्जिद के इमाम मुफ्ती उस्मान मुस्लिम समाज से अपील की थी कि अलविदा जुमे की नमाज अपनी मस्जिद में अदा करें। सड़कों के पार को पर इकट्ठा होने की कोशिश न की जाए। उन्होंने कहा कि नौजवान तब का विशेष रूप से इस चीज का ध्यान रखें कि शांति व सौहार्द के साथ अपना त्यौहार मनाए। थाना प्रभारी निरीक्षक संजीव कुमार ने रमजान माह और ईद उल फितर के संबंध में खतौली की मरकजी मस्जिद अकबर खां के पेश इमाम मुफ्ती उस्मान अहमद से बात की है।
इंस्पेक्टर ने मुक्ति साहब से मिलकर लाउडस्पीकर के अलावा त्योहार के दृष्टिगत वार्ता की। इमाम ने अपने संदेश में मुस्लिम समाज के लोगों से कहा कि अलविदा जुमे की नमाज शांति के माहौल में अदा करें। सार्वजनिक व खुले स्थान पर नमाज अदा न करें। नमाज के दौरान किसी को भी कोई परेशानी न हो इसका खास ख्याल रखा जाए। इसके अलावा ईद की नमाज सार्वजनिक स्थान पर अदा नहीं की जाए। ईदगाह के अलावा अपने क्षेत्र की मस्जिदों में ही नमाज अदा करें।

तीन बच्चों की मां प्रेमी संग फरार: गुमशुदा

तीन बच्चों की मां प्रेमी संग फरार: गुमशुदा
भानु प्रताप उपाध्याय  
मुजफ्फरनगर। तीन बच्चों की मां प्रेमी संग फरार हो गई। काफी तलाश के बाद भी उसका कोई पता नहीं लगा तो परिजनों ने पुलिस को तहरीर दी है। तहरीर के आधार पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। कोतवाली क्षेत्र के गांव मुंडलाना स्थित एक ईंट भट्टे पर मुजफ्फरनगर जनपद के रहने वाले कुछ परिवार मजदूरी करते हैं। बताया गया है कि एक परिवार से तीन बच्चों की मां बुधवार की शाम संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गई। परिजनों ने उसे काफी तलाश किया लेकिन वह नहीं मिली। जिसके बाद परिजनों को पता चला कि भट्टे पर ही काम करने वाले एक युवक के भाई के साथ प्रेम प्रसंग के चलते भाग गई है। इस संबंध में पीड़ित परिवार की ओर से आरोपी पर महिला को बहला-फसलाकर भगा ले जाने के आरोप लगाते हुए पुलिस को तहरीर दी गई है। महिला उपनिरीक्षक डिंपल जोशी का कहना है कि तहरीर के आधार पर पुलिस मामले की जांच कर रही है।

संदिग्ध अवस्था में पति-पत्नी, बच्ची का शव मिला

संदिग्ध अवस्था में पति-पत्नी, बच्ची का शव मिला
संदीप मिश्र  
बरेली। यूपी के बरेली में एक ही कमरे में पिता, पत्नी और चार माह की बच्ची का शव संदिग्ध परिस्थितियों में मिले हैं। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और तीन शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। पुलिस को अंदेशा है कि परिवार ने आत्महत्या की है, जबकि परिजन हत्या का शक जाहिर कर रहे हैं। पुलिस और फॉरेंसिक टीम मौके पर पहुंचकर जांच में जुटी है। यह वारदात यूपी के बरेली में फतेहगंज पूर्वी थाना क्षेत्र की है. घरवालों का आशंका है कि तीनों की हत्या की गई है। एसएसपी रोहित सिंह सजवाण का कहना है कि मृतकों के गले में जिस तरह से निशान है, उससे आत्महत्या का मामला लग रहा है। पुलिस आत्महत्या और हत्या दोनों एंगल से जांच कर रही है।‌‌ पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद से सही कारण का पता चल पाएगा। उसी के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। मुताबिक, हर बार की तरह रामप्रकाश सुबह उठकर कमरे से बाहर नहीं आए तो परिवार के सदस्यों ने दरवाजा खटखटाया। कोई आवाज ना आने पर पड़ोसियों की मदद से दरवाजा तोड़ा तो देखा कि तीनों लोगों के शव कमरे में पड़े थे। फिर इसकी सूचना पुलिस को दी गई।पुलिस का कहना है कि परिवार के लोग कुछ छिपा रहे हैं। गले में जिस तरह का निशान है, वो आत्महत्या की तरफ इशारा कर रहे हैं। हत्या या आत्महत्या पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने के बाद साफ होगा। उसी अनुसार जांच आगे बढ़ेगी। तीन लोगों के शव मिलने की सूचना पुलिस के आलाधिकारियों को भी दी गई।

3370 संक्रमितों की पहचान, 60 मरीजों की मौत

3370 संक्रमितों की पहचान, 60 मरीजों की मौत
अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। भारत में  कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। शुक्रवार सुबह तक देश में 3377 नए संक्रमितों की पहचान हुई है जबकि 60 मरीजों की मौत हुई। वहीं, सक्रिय केस की संख्या बढ़कर 17,801 हो गई है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को सुबह 8 बजे तक अपडेट आंकड़ों के अनुसार देश में अब तक कुल मौतों का आंकड़ा बढ़कर 5,23,753 पर पहुंच गया है। सक्रिय केस में 0.04 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। देश का कोविड रिकवरी रेट 98.74 फीसदी है।
गुरुवार की तुलना में नए संक्रमित 74 ज्यादा मिले हैं, वहीं सक्रिय केस में 821 की बढ़ोतरी हुई है। गुरुवार को कोरोना के 3303 मामले सामने आए थे और 39 मरीजों की मौत हुई थी। इसकी तुलना में शुक्रवार को इन तीनों मानकों की कसौटी पर कोरोना बढ़ता प्रतीत हो रहा है। सबसे बड़ी चिंता की बात ये है कि नए मामलों में से 40 फीसदी मामले राजधानी दिल्ली से मिल रहे हैं।

16.5 करोड़ की आबादी घरों में कैद: वायरस

16.5 करोड़ की आबादी घरों में कैद: वायरस

अखिलेश पांडेय  
बर्लिन। कोरोना के नए मामले अब भी दुनिया के कुछ देशों की चिंता बढ़ा रहे हैं। जर्मनी में एक दिन में दुनिया भर में सबसे ज्यादा नए केस सामने आ रहे हैं। जर्मनी में पिछले 1.24 लाख नए केस आए हैं। कोरोना के चलते वर्तमान में चीन के 27 शहरों में लॉकडाउन लगा हुआ है, इन शहरों में रहने वाली 16.5 करोड़ की आबादी अपने-अपने घरों में कैद है। इनमें सबसे बुरी स्थिति चीन की आर्थिक राजधानी शंघाई और राजनीतिक राजधानी बीजिंग की है। यहां लोगों का हफ्ते में तीन बार टेस्ट किया जा रहा है। वर्ल्डोमीटर की रिपोर्ट के मुताबिक फ्रांस में पिछले 24 घंटे में 61,000 और अमेरिका (US) में करीब 12,000 केस मिले हैं। साउथ कोरिया में सबसे अधिक 64,725 नए केस सामने आए हैं।

एमपी: 10वीं व 12वीं के रिजल्ट ऐसे चेक करें

एमपी: 10वीं व 12वीं के रिजल्ट ऐसे चेक करें

मनोज सिंह ठाकुर  
भोपाल। मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन के नतीजे बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट्स mpresults.nic.in, mpbse.nic.in और mpbse.mponline.gov.in पर चेक कर सकते है।
ऐसे चेक करें अपना रिजल्ट
सबसे पहले आप रिजल्ट की वेबसाइट पर जाएं।
इसके बाद 10 वीं का रिजल्ट देखने के लिए सेकेंडरी रिजल्ट पर क्लिक करें।
12 वीं का रिजल्ट देखने के लिए सीनियर सेकेंडरी रिजल्ट पर क्लिक करें।
साइट खुलने पर अपना रोल नंबर डालें।
अब आपका रिजल्ट स्क्रीन पर नजर आने लगेगा।
 डाउनलोड कर प्रिंट कर सकते हैं।
मार्कशीट डाउनलोड करने का लिंक बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट्स पर लाइव हो गया है।छात्रों को अपने रोल नंबर की मदद से वेबसाइट पर लॉगिन करना होगा और अपनी मार्कशीट डाउनलोड करनी होगी।

बोतल पानी पीने की आदत को मॉनिटर करता है

बोतल पानी पीने की आदत को मॉनिटर करता है 

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। अपने अनोखे प्रोडक्ट के लिए एपल जाना जाता है। अब एप्पल ने एक स्मार्ट बोतल लॉन्च करने दुनिया को चौंका दिया है। इससे पहले एपल ने फोन को साफ करने वाला एक कपड़ा 1,900 रुपये में लॉन्च किया था। एपल के इस खास बोतल का नाम हाइड्रेट स्पार्क रखा गया है।
एपल का हाइड्रेट एक पानी का बोतल है जिसे एपल के अमेरिकी स्टोर पर 59.95 डॉलर यानी करीब 4,600 रुपये में लिस्ट किया गया है। फिलहाल यह बोतल अमेरिकी बाजार में उपलब्ध है और अन्य मार्केट में इसकी उपलब्धता के बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं है।
एप्पल हाइड्रेट स्पार्क को स्मार्ट बोतल इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि इसमें ब्लूटूथ कनेक्टिविटी है। यह बोतल आपके पानी पीने की आदत को मॉनिटर करता है और आईके आईफोन के एपल हेल्थ एप में डाटा भेजता है।
एप्पल हाइरेट्स को दो वेरियंट में पेश किया गया है। पहला वेरियंट हाइड्रेट्स है और दूसरा वेरियंट हाइड्रेट स्पार्क स्मार्ट प्रो है। इन दोनों वेरियंट की कीमतें क्रमशः 59.95 डॉलर और 79.95 डॉलर्स हैं।
 हाईरेट्स स्मार्ट प्रो स्टील को सिल्वर और ब्लैक दो कलर में खरीदा जा सकेगा। इस बोतल में एक LED सेंसर भी लगा है जिसके साथ ब्लूटूथ की कनेक्टिविटी है। बोतल पानी पीने के लिए फोन पर अलर्ट भी भेजता है। हाइट रेट प्रो को ब्लैक और ग्रीन कलर में पहले वाले वेरियंट जैसे फीचर्स के साथ खरीदा जा सकेगा।

कश्मीरी पंडितों को भेजा जा सकता है विधानसभा

कश्मीरी पंडितों को भेजा जा सकता है विधानसभा

इकबाल अंसारी  

श्रीनगर। । जम्मू-कश्मीर में अभी परिसीमन चल रहा है जिसके कारण विधानसभा में कश्मीरी पंडित समुदाय के सदस्यों को नामित विधायकों के तौर पर एंट्री दी जा सकती है। दरअसल कश्मीरी पंडितों की आबादी घाटी में नाम मात्र की है और 1990 में हिंसा के बाद पलायन करने वाले परिवारों की वापसी भी बहुत सीमित है। ऐसे में उन्हें प्रतीकात्मक तौर पर प्रतिनिधित्व देते हुए नामित सदस्य विधानसभा भेजे जा सकते हैं। इस प्रावधान पर परिसीमन आयोग विचार कर रहा है। आयोग का कार्यकाल 6 मई को समाप्त हो रहा है। खास बात यह है कि परिसीमन आयोग की सिफारिश में इन नामित सदस्यों को विधानसभा में किसी भी मसले पर होने वाले मतदान में वोटिंग का अधिकार भी दिया जा सकता है। पैनल का मानना है कि कश्मीरी पंडितों को राज्य की व्यवस्था में भागीदारी का अवसर दिया जाना चाहिए। इसके अलावा यह भी चर्चा हुई है कि क्या पलायन करने वाले कश्मीरी पंडित जहां भी हैं, वहीं से जम्मू-कश्मीर के विधानसभा चुनावों में मतदान कर सकते हैं। सूत्रों का कहना है कि कश्मीरी पंडितों के प्रतिनिधिमंडलों से परिसीन आयोग के सदस्यों ने बात की है। इसके बाद इस पर सहमति बनी है कि विधानसभा में कश्मीरी पंडितों को प्रतिनिधित्व मिलना चाहिए।परिसीमन आयोग में मेवानिवृत सुप्रीम कोर्ट जस्टिस रंजना देसाई और मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा शामिल हैं। विधानसभा में कश्मीरी पंडितों का यह प्रतिनिधित्व धर्म या जाति के आधार पर नहीं होगा। इसकी बजाय इसका आधार यह होगा कि वे पीढ़ियों से राज्य की राजनीतिक व्यवस्था के हिस्सेदार रहे हैं। इस व्यवस्था का उदाहरण सिक्किम से लिया गया है, जहां बौद्ध भिक्षुओं को नामित सदस्य के तौर पर भेजने का नियम है। जम्म-कश्मीर विधानसभा में चुनाव के माध्यम से कश्मीरी पंडितों के प्रतिनिधित्व की बजाय नामित सदस्यों की व्यवस्था को ज्यादा सही माना जा रहा है। अब तक जम्मू-कश्मीर विधानसभा में दो महिला सदस्यों को भेजने की व्यवस्था रही है। ऐसा ही प्रावधान पुदुचेरी विधानसभा में भी है, जहां 30 सदस्य चुनाव के जरिए आते हैं। इसके अलावा 3 सदस्यों को केंद्र सरकार की ओर से नामित किया जाता है। यदि परिसीमन आयोग केंद्र सरकार से कश्मीरी पंडितों को लेकर यह सिफारिश करता है तो समुदाय की लंबे वक्त से चल रही मांग पूरी हो सकती है। कश्मीरी पंडित समुदाय की ओर से मांग की जाती रही है कि उन्हें जम्मू-कश्मीर विधानसभा में प्रतिनिधित्व दिया जाना चाहिए। पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से भी समुदाय ने इसे लेकर मांग की थी।

तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कियें

तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कियें   

अंकुर कुमार        

नई दिल्ली। सरकारी तेल कंपनियों ने शुक्रवार को पेट्रोल-डीजल के दाम जारी कर दिए हैं। सुबह छ: बजे जारी किए गए रेट्स के अनुसार, आज भी कीमत में कोई बदलाव नहीं हुआ है। सभी शहरों में पेट्रोल-डीजल के रेट्स स्थिर बने हुए हैं। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पेट्रोल 105.41 रुपये प्रति लीटर और डीजल 96.67 रुपये प्रति लीटर की दर से बिक रहा है। आईओसीएल के अपडेट के अनुसार, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई समेत अन्य महानगरों में भी तेल की कीमतें स्थिर बनी हुई हैं। मुंबई में एक लीटर पेट्रोल 120.51 रुपये और डीजल 104.77 रुपये प्रति लीटर की दर से बिक रहा है। कोलकाता में पेट्रोल 115.12 रुपये व डीजल 99.83 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। इसके अलावा, चेन्नई में आज एक लीटर पेट्रोल के दाम 110.85 रुपये और डीजल के दाम 100.94 रुपये पर बने हुए हैं।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड ऑयल (Crude Oil) की कीमत के आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमत प्रतिदिन अपडेट की जाती है। ऑयल मार्केटिंग कंपनियां कीमतों की समीक्षा के बाद रोज पेट्रोल (Petrol) और डीजल (Diesel) के दाम तय करती हैं। इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम तेल कंपनियां हर दिन सुबह विभिन्न शहरों की पेट्रोल और डीजल की कीमतों की जानकारी अपडेट करती हैं।

भारतीय नौसेना में नौकरी का शानदार मौका

भारतीय नौसेना में नौकरी का शानदार मौका  

अकांशु उपाध्याय         
नई दिल्ली। भारतीय नौसेना में 10वीं पास के लिए सरकारी नौकरियों के मौके हैं। भारतीय नौसेना ने फार्मासिस्ट, फायरमैन और पेस्ट कंट्रोल वर्कर के पदों पर भर्ती निकाली है। भारतीय नौसेना में सरकारी नौकरी का शानदार मौका है। नौसेना ने फार्मासिस्ट, फायरमैन और पेस्ट कंट्रोल वर्कर के पदों पर भर्ती निकाली है‌। इस भर्ती के लिए आवेदन की आखिरी तारीख भर्ती विज्ञापन जारी होने से 60 दिन यानी 26 जून तक है। नौसेना भर्ती के लिए आवेदन ऑफलाइन करना है।

वैकेंसी डिटेल...
फार्मासिस्ट- 1 पद
फायरमैन- 120 पद
पेस्ट कंट्रोल वर्कर- 6 पद

योग्यता...
फार्मासिस्ट- 10वीं पास होना चाहिए।
फायरमैन- 10वीं पास होने के साथ शारीरिक रूप से मजबूत होना चाहिए। लंबाई 165 सेंटीमीटर कम से कम होनी चाहिए। आईएसटी मेंबर को लंबाई में 2.5 सेंटीमीटर की छूट मिलेगी। चेस्ट बिना फुलाए 81.5 सेंटीमीटर और फुलाने के बाद 85 सेंटीमीटर होना चाहिए। वजन कम से कम 50 किलोग्राम होना चाहिए। पेस्ट कंट्रोल वर्कर- 10वीं पास होना चाहिए। हिंदी/रीजनल लैंग्वेज लिखने, पढ़ने और बोलने में सक्षम होना चाहिए।

आयु सीमा...
उम्मीदवारों की आयु अधिकतम 56 साल होनी चाहिए।

सेलेक्शन क्राइटेरिया...
उम्मीदवारों का सेलेक्शन फिजिकल फिटनेस टेस्ट, प्रोविजनल अलॉटमेंट लेटर और डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन के आधार पर होगा।

कहां भेजना है आवेदन फॉर्म...
फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ (एसओ सीपी के लिए), हेडक्वॉर्टर्स वेस्टर्न नेवल कमांड, बलाड पीयर, टाइगर गेट के नजदीक, मुंबई- 400001।

101 किलो चांदी से बना दरवाजा चढ़ाया: आस्था

101 किलो चांदी से बना दरवाजा चढ़ाया: आस्था

सत्येंद्र पंवार
मिर्जापुर। मिर्जापुर के विंध्याचल में स्थित प्रसिद्ध मां विंध्यवासनी मंदिर में एक भक्त ने मनोकामना पूरी होने पर 101 किलो चांदी से बना दरवाजा चढ़ाया। मंदिर के गर्भ गृह में प्रवेश द्वार पर इस चांदी के दरवाजे को वैदिक मंत्रोच्चार के बाद मुख्य द्वार पर स्थापित किया गया। इसकी कीमत 80 लाख रुपये आंकी गई है‌‌। यह दरवाजा सवा पांच फीट लंबा और दो फीट चौड़ा है। इसे राजस्थान से बनवाया गया है। चांदी के दरवाजे को लगाने के लिए राजस्थान के झुंझुनू जिले से पांच कारीगर भी लाए गए थे। मंदिर में जहां चांदी का दरवाजा लगाया गया। 
वहां पहले पीतल का गेट लगा था। इस मौके पर माता विंध्यवासिनी के दरबार में विशेष पूजन अर्चन एवं भंडारे का आयोजन किया गया। भक्त संजय चौधरी ने बताया कि वह करीब 25 सालों से रांची से विंध्याचल आ रहे हैं। संजय दोनों नवरात्रि में सपरिवार माता विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन करने के लिए आते हैं। नवरात्रि के दौरान ही उन्होंने मन में संकल्प लिया कि एक दिन माता के गर्भ गृह में चांदी का दरवाजा लगवाएंगे। संजय ने कहा कि मां के आशीर्वाद से चांदी का द्वार लगवाने का संकल्प पूरा हुआ। बता दें, पिछले साल अगस्त महीने में बिहार के एक मंत्री ने मां विध्यवासिनी को एक किलो के सोने का मुकुट और चरण दान किया था। इसकी कीमत 50 लाख रुपये आंकी गई थी। विध्यवासिनी दरबार लाखों श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र है। यहां आम दिनों में भी हजारों की संख्या में दर्शन-पूजन के लिए भक्त पहुंचते हैं और अपनी मनोकामना पूरी होने की कामना करते हैं।

नाटो-रूस के बीच टकराव या छद्म युद्ध बताना असत्य

नाटो-रूस के बीच टकराव या छद्म युद्ध बताना असत्य 

अखिलेश पांडेय           

वाशिंगटन डीसी। अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि रूसी अधिकारियों की ओर से यूक्रेन में संघर्ष को अमेरिका, उत्तर अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) और रूस के बीच सीधे टकराव या छद्म युद्ध बताना असत्य, लेकिन चिंताजनक हैं। बाइडेन ने रूस अधिकारियों की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा, "वे सच्चे नहीं हैं। वे मेरी चिंता करते हैं, क्योंकि यह उनकी हताशा को दर्शाता है। रूस ने पहली बार में जो करने के लिए निर्धारित किया गया था, उसे करने में वे अपनी घोर विफलता महसूस कर रहे हैं। इसलिए मुझे लगता है कि यह सच्चाई से अधिक उनकी विफलता को प्रतिबिंबित करता है। इसलिए यह कहने के बजाय कि यूक्रेन के पास रूसी सेना का विरोध करने की क्षमता है, इस तरह का बयान दे रहे हैं। उन्हें अपने लोगों को बताना होगा कि अमेरिका और सभी नाटो रूसी सैनिकों और टैंकों को बाहर निकालने में लगे हुए हैं।"

उल्लेखनीय है कि रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव सहित वहां के अन्य अधिकारियों ने रूस के विशेष सैन्य अभियान के दौरान यूक्रेन में अमेरिका और नाटो की गतिविधियों को एक छद्म युद्ध की ओर ले जाने की संभावना जताई है।

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण     

1. अंक-203, (वर्ष-05)
2. शनिवार, अप्रैल 30, 2022
3. शक-1984, वैशाख, कृष्ण-पक्ष, तिथि-अमावस्या, विक्रमी सवंत-2078‌‌। 
4. सूर्योदय प्रातः 07:04, सूर्यास्त: 06:24।
5. न्‍यूनतम तापमान- 29 डी.सै., अधिकतम-44+ डी सै.। उत्तर भारत में बरसात की संभावना।
6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102
http://www.universalexpress.page/
www.universalexpress.in
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745 
           (सर्वाधिकार सुरक्षित)

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न

'जिला स्वच्छ भारत मिशन' की बैठक संपन्न    सुशील केसरवानी         कौशाम्बी। मुख्य विकास अधिकारी शशिकान्त त्रिपाठी की अध्यक्षता में उद...