मंगलवार, 31 मार्च 2020

दुर्गाष्टमी, मां महागौरी नवरात्र

माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। दुर्गापूजा के आठवें दिन महागौरी की उपासना का विधान है। नवरात्रि में आठवें दिन महागौरी शक्ति की पूजा की जाती है। नाम से प्रकट है कि इनका रूप पूर्णतः गौर वर्ण है। इनकी उपमा शंख, चंद्र और कुंद के फूल से दी गई है। अष्टवर्षा भवेद् गौरी यानी इनकी आयु आठ साल की मानी गई है। इनके सभी आभूषण और वस्त्र सफेद हैं। इसीलिए उन्हें श्वेताम्बरधरा कहा गया है। इनकि चार भुजाएं हैं और वाहन वृषभ है इसीलिए वृषारूढ़ा भी कहा गया है इनको।


इनके ऊपर वाला दाहिना हाथ अभय मुद्रा है तथा नीचे वाला हाथ त्रिशूल धारण किया हुआ है। ऊपर वाले बांए हाथ में डमरू धारण कर रखा है और नीचे वाले हाथ में वर मुद्रा है। इनकी पूरी मुद्रा बहुत शांत है।


मान्यता
पति रूप में शिव को प्राप्त करने के लिए महागौरी ने कठोर तपस्या की थी। इसी कारण से इनका शरीर काला पड़ गया लेकिन तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने इनके शरीर को गंगा के पवित्र जल से धोकर कांतिमय बना दिया। उनका रूप गौर वर्ण का हो गया। इसीलिए यह महागौरी कहलाईं।


यह अमोघ फलदायिनी हैं और इनकी पूजा से भक्तों के तमाम कल्मष धुल जाते हैं। पूर्वसंचित पाप भी नष्ट हो जाते हैं। महागौरी का पूजन-अर्चन, उपासना-आराधना कल्याणकारी है। इनकी कृपा से अलौकिक सिद्धियां भी प्राप्त होती हैं।


एक और मान्यता के अनुसार एक भूखा सिंह भोजन की तलाश में वहां पहुंचा जहां देवी ऊमा तपस्या कर रही होती है। देवी को देखकर सिंह की भूख बढ़ गई, लेकिन वह देवी के तपस्या से उठने का प्रतीक्षा करते हुए वहीं बैठ गया। इस प्रतीक्षा में वह काफी कमज़ोर हो गया। देवी जब तप से उठी तो सिंह की दशा देखकर उन्हें उस पर बहुत दया आ गई। उन्होने द्याभाव और प्रसन्न्ता से उसे भी अपना वाहन बना लिया क्‍योंकि वह उनकी तपस्या पूरी होने की प्रतीक्षा में स्वंय भी तप कर बैठा।


कहते है जो स्त्री मां की पूजा भक्ति भाव सहित करती हैं उनके सुहाग की रक्षा देवी स्वंय करती हैं।


मंत्र:


श्वेते वृषे समारूढ़ा श्वेताम्बरधरा शुचिः।
महागौरी शुभं दद्यान्महादेवप्रमोददा॥


अन्य नाम: इन्हें अन्नपूर्णा, ऐश्वर्य प्रदायिनी, चैतन्यमयी भी कहा जाता है।


योगी ने गाजियाबाद का निरीक्षण किया

योगी ने गाजियाबाद का निरीक्षण किया
 अश्वनी उपाध्याय। गाजियाबाद। उत्तर-प्रदेश में  कोरोनावायरस कोविड-19 के बढ़ते हुए मामलों को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  सतर्क और चिंतित दिखाई दे रहे हैं। लापरवाह और कर्तव्य विमुख अधिकारियों के खिलाफ सख्ती से कार्यवाही करते नजर आ रहे हैं।  साथ-साथ वायरस से प्रभावित जनपदों में स्वयं निरीक्षण और व्यवस्था आकलन कर रहे हैं।  जिसके चलते जनपद गाजियाबाद में मंगलवार को मुख्यमंत्री के द्वारा कई स्थानों का  निरीक्षण किया गया। उसके पश्चात जनपद के प्रमुख अधिकारियों से समीक्षा बैठक की। समीक्षा बैठक में जनपद की सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उठाए गए जरूरी और आवश्यक  कदमों की सूचना ली गई। नियंत्रण विधि का विस्तार से वर्णन किया। जिसके पश्चात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  कुछ संतुष्ट नजर आए। हालांकि उन्होंने किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त न करने की बात भी कही। जिससे अधिकारियों के चेहरों पर भय की लहर दौड़ गई।
जिला अधिकारी के द्वारा एहतियातन आवश्यक कार्रवाई  की हैं। निरंतर, नियमित रूप से  स्थिति का आकलन भी कर रहे हैं। इसके पश्चात अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवम स्वास्थ्य श्री रजनीश दुबे के द्वारा कलेक्ट्रेट सभागार में अधिकारियों संग बैठक की गई। कोरोना नियंत्रण को लेकर होने वाली तैयारियों का जायजा लिया। इस अवसर पर डीएम, एसएसपी के अलावा सभी प्रशासनिक, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे। जिस तरह से मुख्यमंत्री का प्रोग्राम प्रशासनिक अधिकारियों को दिया गया था। उस प्रोग्राम के तहत मुख्यमंत्री संतोष मेडिकल कॉलेज के अलावा कहीं नहीं गए। जिसके बाद पूरे स्वास्थ्य विभाग और प्रशासनिक अधिकारियों में खलबली मची हुई है। माना जा रहा है कि जिस तरह से मुख्यमंत्री के द्वारा बहुत कम समय दिया गया और प्रोग्राम के तहत अन्य जगह का भी निरीक्षण नहीं किया गया। उससे सारी तैयारियां भी धरी रह गई । स्वास्थ्य विभाग द्वारा संतोष मेडिकल कॉलेज में 100 बेड का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। जिसका निरीक्षण मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के द्वारा स्वयं किया गया है। हालांकि इस दौरान मुख्यमंत्री द्वारा किसी तरह के कोई निर्देश नहीं दिए गए। और सीधे मुख्यमंत्री यहां से रवाना हो गयेे।


वायरसः इटली में 8 हजार से अधिक मौतें

रोम। कोरोनावायरस महामारी के चलते इटली में आठ हजार से अधिक मौतें हो गईं हैं। लॉकडाउन हुए इटली में गुरुवार तक मरने वाले लोगों की कुल संख्या 8,165 रही, जबकि बीमारी से संक्रमित लोगों का कुल आंकड़ा 80,539 रहा। सिविल प्रोटेक्शन डिपार्टमेंट द्वारा जारी किए गए नवीनतम आंकड़े से यह बात निकलकर सामने आई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने सिविल प्रोटेक्शन डिपार्टमेंट और टेक्निकल एंड साइंटिफिक कमेटी के कोऑर्डिनेटर अगस्टिनो मियोजो के हवाले से कहा कि कोरोनावायरस संक्रमण के नए मामले बुधावर की तुलना में कुल 4,492 अधिक रहे, जिसके बाद से देशभर में संक्रमित लोगों की संख्या 62,013 हो गई है।
रात को एक टेलीविजन प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बोलते हुए अगस्टिनो ने आगे कहा कि संक्रमित लोगों में से 33,648 हाउस आइसोलेशन में हैं। वहीं 3,612 अस्पताल के आईसीयू में, जबकि अन्य 24,753 जनरल अस्पताल के वार्ड में भर्ती हैं। उन्होंने आगे कहा कि बुधवार की तुलना में उपचार के बाद कुल 999 लोग पूर्ण रूप से स्वस्थ हुए, जिसके बाद ठीक होने वाले लोगों की संख्या कुल 10,361 हो गई है। वहीं, बुधवार और गुरुवार के बीच 662 लोगों की मौत हुई, जिसके बाद 21 फरवरी को उत्तरी इटली में पहली बार महामारी शुरू होने के बाद से मरने वालों की कुल संख्या 8,165 हो गई।


स्पेनः अंतिम संस्कार के लिए तीन लोग

मैड्रिड। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच स्पेन ने अंतिम संस्कार में अधिक लोगों के एकत्रित होने और घरों पर जाकर शोक व्यक्त करने पर रोक लगा दी है। नए आदेशानुसार, अंतिम संस्कार के लिए अब तीन से अधिक लोग एकत्रित नहीं हो पाएंगे। मैड्रिड ने सोमवार को घोषणा की ” अलर्ट खत्म होने तक धार्मिक समारोह और लोगों के अंतिम संस्कार के बाद किए जाने वाले अनुष्ठानों पर रोक रहेगी।


लोगों को नियंत्रित रखने के लिए देशभर में 11 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषित किया गया है। नए आदेशानुसार अब केवल तीन लोग ही अंतिम संस्कार के लिए एकत्र हो पाएंगे और लोगों को एक दूसरे से एक-दो मीटर की दूरी बनाए रखनी होगी। स्पेन में कोरोना वायरस की चपेट में आने से अभी तक 7,340 लोगों की जान जा चुकी है। सरकार ने लोगों के घर पर जाकर शोक व्यक्त करने पर भी रोक लगा दी है।


195 देशों में 677705 लोग संक्रमित

वॉशिंगटन। दुनिया के सभी 195 देश कोरोनावायरस की चपेट में हैं। रविवार दोपहर तक 6 लाख 77 हजार 705 संक्रमितों की पुष्टि हुई। 31,737 लोग जान गंवा चुके हैं। इसी दौरान एक लाख 43 हजार 107 स्वस्थ भी हुए। अमेरिका में 2229 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। एक लाख 23 हजार से ज्यादा संक्रमित हैं। न्यूयॉर्क में सबसे ज्यादा 782 लोगों की जान गई। हाउस स्पीकर नैंसी पेलोसी ने राष्ट्रपति ट्रम्प पर गंभीर आरोप लगाए हैं। ब्रिटेन में बीते 24 घंटे में 209 संक्रमितों ने दम तोड़ दिया।


अमेरिका : ट्रम्प पर गंभीर आरोप
अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर गंभीर आरोप लगाया। पेलोसी ने सीएनएन को दिए इंटरव्यू में कहा कि ट्रम्प ने शुरुआत में कोरोनावायरस को गंभीरता से नहीं लिया। उन्होंने कहा, “ट्रम्प ने शुरुआत में कोरोनावायरस को गंभीरता से नहीं लिया। अब अमेरिकी जान देकर इसकी कीमत चुका रहे हैं। हम एकजुट होकर इस आपदा से निपट लेंगे। लेकिन, प्रेसिडेंट ने खतरे का सही आकलन नहीं किया। यह हमारी बदकिस्मती है। हम तो ये भी नहीं जानते कि हालात कितने नाजुक हैं। क्योंकि, सही वायरस की सही टेस्टिंग ही नहीं हुई।”


ब्रिटेन : 24 घंटे और 209 मौतें
पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड के मुताबिक, बीते 24 घंटे में यहां 209 संक्रमितों की मौत हो गई। रविवार रात एक बयान जारी किया गया। इसमें कहा गया, ‘शनिवार से रविवार के बीच ब्रिटेन में 209 लोगों ने दम तोड़ दिया। कुल मौतों का आंकड़ा अब 1,228 हो गया है। 2,433 नए संक्रमित सामने आए। कुल मिलाकर यह संख्या 19,522 हो गई है।’ कैबिनेट मिनिस्टर माइकल गोव ने कहा, “मैं पुख्ता तौर पर तो कुछ नहीं बता सकता लेकिन, सरकार अब बेहद कड़े कदम उठाने जा रही है। यह सेकंड वर्ल्ड वॉर के बाद सबसे सख्त पाबंदियां हो सकती हैं। ये वक्त की मांग भी है।”


नेपाल : लॉकडाउन बढ़ा
नेपाल सरकार ने कोरोना संक्रमण की वजह से लॉकडाउन 7 अप्रैल तक बढ़ा दिया है। रविवार को कैबिनेट की इमरजेंसी मीटिंग हुई। इसमें लॉकडाउन की मियाद बढ़ाने के अलावा कुछ और फैसले भी लिए गए। पहले 31 मार्च तक लॉकडाउन घोषित किया गया था। नेपाल सरकार ने भारत से कोरोना संक्रमण रोकने के लिए कुछ दिनों पहले मदद मांगी थी। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने अपने समकक्ष से बातचीत की थी।


स्विट्जरलैंड : एक दिन में एक हजार मामले
यहां कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। यहां शनिवार और रविवार के बीच 1,123 नए मामले सामने आए। कुल पॉजिटव केस 14,336 हो गए हैं। यह आंकड़ा सरकार ने जारी किया। 257 लोगों की मौत हो चुकी है। शनिवार को 22 लोगों ने दम तोड़ दिया। अब तक 1 लाख 11 हजार टेस्ट किए गए हैं। 13 फीसदी पॉजिटिव रिजल्ट हैं।


श्रीलंका : पहली मौत
सरकार के मुताबिक, शनिवार को कोरोना संक्रमण से पहली मौत हुई। 60 साल के पुरुष ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। उसको कुछ दूसरी बीमारियां भी थीं। श्रीलंका सरकार ने इस महीने की शुरुआत में ही कोरोना पर सख्त कदम उठाए थे। इसका फायदा भी हुआ। राजधानी कोलंबो समेत देश के पांच प्रमुख जिलों में 15 दिन से कर्फ्यु है। इंटरनेशनल फ्लाइट्स बंद की जा चुकी हैं। देश में कुल 107 मामले सामने आए हैं। 7 अब स्वस्थ हैं।


कनाडा: 5655 संक्रमित


प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो की पत्नी सोफी ग्रेगॉयर कोरोनावायरस से ठीक हो गई हैं। उन्होंने शनिवार को इसकी जानकारी दी। ट्रूडो के ऑफिस ने 12 मार्च को सोफी के पॉजिटिव होने की पुष्टि की थी। इसके बाद प्रधानमंत्री के पूरे परिवार को आइसोलेशन में रखा गया था। कनाडा में अब तक 5,655 लोग संक्रमित हैं। 60 की मौत हो चुकी है।


इटली: 3 अप्रैल को लॉकडाउन खत्म हो रहा
यूरोप में कोरोनावायरस से मौतौं का आंकड़ा 20 हजार से ज्यादा हो गया है। दस हजार से ज्यादा की मौत हो चुकी है। 92,472 लोग संक्रमित हैं। सरकार ने यहां 9 मार्च से 3 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषित किया था। करीब 6 करोड़ लोग घरों में कैद है। प्रधानमंत्री ग्यूसेप कोंटे लॉकडाउन बढ़ा सकते हैं।


पाकिस्तान: अब 1526 मामले
यहां 1526 लोग संक्रमित पाए गए हैं। पंजाब प्रांत में सबसे ज्यादा 558 केस सामने आए हैं। सिंध में 481, खैबर-पख्तूनख्वा में 188, बलूचिस्तान में 138, गिलगित-बाल्टिस्तान में 116, इस्लामाबाद में 43 और पीओके में 2 मामलों की पुष्टि हुई है। 13 लोगों की मौत हो चुकी है। शनिवार को चीन से 8 मेडिकल टीमें पहुंचीं।


स्पेन: 24 घंटे में 838 संक्रमितों की मौत
स्पेन में 24 घंटे में 838 लोगों की मौत हुई है। मौतों का आंकड़ा 6528 हो गया है। 14,700 लोग स्वस्थ भी हुए। संक्रमण के कुल मामले 78,797 हो चुके हैं। मैड्रिड (22,000) और कैटालोनिया (15,000) सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। 86 साल की राजकुमारी मारिया टेरेसा की 26 मार्च को पेरिस में मौत हो गई। दुनियाभर में किसी भी शाही परिवार के सदस्य की यह पहली मौत है।


ब्रिटेन: पीएम की अपील


सेल्फ आइसोलेट हुए ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने लोगों से अपने घर में रहने की अपील की है। 27 मार्च को उनके कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी मिली थी। जॉनसन ने इंस्टाग्राम पर पोस्ट में तीन करोड़ ब्रिटेन वासियों से कहा- हम जानते हैं कि चीजें बेहतर होने से पहले ही खराब हो सकती हैं। लेकिन, हम इससे निपटने की तैयारी कर रहे हैं। नियमों का पालन करेंगे, तो लोगों की जान भी कम जाएगी। जल्द ही जीवन सामान्य हो जाएगा। देश में कोरोना के 17,089 मामले हैं, जबकि 1019 लोगों की मौत हो चुकी है।


फ्रांस: 15 अप्रैल तक लॉकडाउन बढ़ाया गया
जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के मुताबिक, फ्रांस में अब तक 2314 लोगों की मौत हुई है। 38 हजार 105 नागरिक संक्रमित हैं। स्वास्थ्य मंत्री ओलिविए वेरान ने शनिवार को कहा कि फ्रांस ने एक अरब से ज्यादा फेस मास्क का ऑर्डर दिया है। हर हफ्ते देश में 40 करोड़ मास्क का इस्तेमाल किया जा रहा है।


न्यूजीलैंड: कोरोनावायरस से पहली मौत
न्यूजीलैंड में शनिवार को कोरोनावायरस से संक्रमित 70 साल की एक महिला की मौत हो गई। देश में महामारी से यह पहली मौत है। रविवार को यहां 63 नए मामले सामने आए। यहां संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 514 है। प्रधानमंत्री जेंसिडा आर्डर्न ने महिला की मौत पर दुख जताया और कहा कि हम सबको इससे मिलकर लड़ना है। यहां चार हफ्तों का लॉकडाउन है।


 तुर्की: 7,402 मामले, 108 लोगों की मौत
तुर्की के हेल्थ मिनिस्टर फहार्टिन कोका ने कहा,“देश में कोरोनावायरस से संक्रमण की पुष्टि के कुल 7,402 मामले सामने आ चुके हैं। शनिवार तक कुल 7,641 टेस्ट किए जा चुके हैं। 108 लोगों की मौत हो चुकी है। तुर्की में कोविड-19 संक्रमण का पहला मामला 11 मार्च को सामने आया था।मिस्र: राष्ट्रपति सिसी और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस ने चर्चा कीः राष्ट्रपति सिसी ने फेसबुक पर एक पोस्ट में लिखा कि उन्होंने अबुधाबी के प्रिंस अल नाहयान से फोन पर बातचीत की। इस दौरान वायरस के प्रसार को रोकने और उससे लड़ने के लिए आपसी सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा हुई। मिस्र में 576 लोग संक्रमित हैं, जबकि 36 लोगों की मौत हो चुकी है।


7 दिन बाद रिकवर हुए ब्रिटेन के प्रिंस

लंदन। कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने के सात दिन बाद अब ब्रिटेन के शाही परिवार के सदस्य प्रिंस चार्ल्स रिकवर हो गए हैं और वह सोमवार को डॉक्टर की सलाह के बाद आइसोलेशन से बाहर आ गए। शाही परिवार के प्रवक्ता ने बताया कि चार्ल्स (71) पिछले सप्ताह राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) में कोरोना वायरस परीक्षण कराने के बाद स्कॉटलैंड में आइसोलेशन में चले गए थे। 
उनके प्रवक्ता ने कहा, क्लीयरेंस हाउस (राजपरिवार निवास) ने आज (सोमवार को) पुष्टि की कि डॉक्टरों के परामर्श के बाद प्रिंस ऑफ वेल्स अब स्वयं के एकांतवास से बाहर आ गए हैं। प्रिंस चार्ल्स की प प्रतिशती कैमिला (72) उसी समय जांच में कोरोना वायरस से संक्रमित नहीं पाई गई थीं लेकिन तब से वह भी बालमोरल में अलग रह रही थीं।


इस शाही दंपत्ति ने पिछले सोमवार को मेडिकल जांच कराई थी। उससे पहले दोनों जेट विमान से स्कॉटलैंड पहुंचे थे और तब से ही वे वहां थे। तब क्लीयरेंस हाउस ने कहा था, यह पता लगाना संभव नहीं है कि प्रिंस को कैसे यह संक्रमण हुआ क्योंकि पिछले सप्ताहों में वह सार्वजनिक भूमिका को लेकर कई कार्यक्रमों में शामिल रहे थे। उल्लेखनीय है कि उनसे पहले मोनैको को प्रिंस अल्बर्ट भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। इससे कुछ दिन पहले ही उन्होंने प्रिंस चार्ल्स से मुलाकात की थी।


पॉजिटिव लोगों की मौत का सिलसिला

अतुल त्यागी जिला प्रभारी, प्रवीण कुमार रिपोर्टर, मनोज रूहेला रिपोर्टर


हापुड़। कोरोना संक्रमित वायरस से भारत में लगातार आ रही पॉजिटिव रिपोर्ट व लोगों की मौत होने का सिलसिला जारी है। जिसके प्रति केंद्र व प्रदेश सरकार गंभीर दिख रही हैं और लोगों को इस महामारी से बचाने के लिए संपूर्ण भारत को 21 दिन के लिए लोग डाउन किया हुआ है। हापुड़ के पास जनपद मेरठ नोएडा मैं इस संक्रमित वायरस से निरंतर बढ़ोतरी हो रही है। उसके बावजूद भी लोग सड़कों पर निकल रहे हैं आज 31 दिसंबर 2020 को ग्राम ततारपुर स्थित बैंक ऑफ इंडिया में कुछ लोग में महिलाएं पैसे निकालने के लिए बैंक के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं। जिससे संक्रमित फैलने के चांस अधिक होते हैं।  बैंक के गार्ड द्वारा बार-बार जनता से अनुरोध करा की आप लोग कम से कम 1 मीटर की दूरी बनाए रखें ऐसा ही नजारा ततारपुर बाईपास पर देखने को मिला कि एक किसान के ट्रैक्टर पर पांच-छह लोग ट्रॉली पर बैठकर अपने कार्य को अंजाम दे रहे थे। हापुड़ देहात  के एसएसआई विनोद कुमार ने पुलिस बल के साथ उन्हें रोका और चेतावनी दी कि आप लोग केवल 10:00 बजे तक अपना कार्य कर सकते हैं। उसके बाद अगर आप रोड पर दिखाई दिए तो आपके विरुद्ध धारा 188 के तहत कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी दुपहिया वाहन चालकों को भी लोग डाउन का पालन नहीं करने पर देहात पुलिस ने करीब 8 वाहन चालकों के चालान की है। उसी कड़ी में हापुर सदर उप जिला मजिस्ट्रेट सत प्रकाश वपुलिस उपाधीक्षक राजेश कुमार सिंह तथा शहर कोतवाल अवनीश गौतम एवं यातायात निरीक्षक अजयवीर सिंह ने भी पुलिस बल के साथ लोगों को लोग डाउन का पालन करने के लिए जनता से अनुरोध किया।


घर-घर पहुंचेगा राशन व सब्जीः ईरानी

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से जारी लड़ाई के बीच केंद्रीय मंत्री व सांसद स्मृति ईरानी अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों के लिए आगे आई हैं। राहत के लिए एक करोड़ की निधि देने के बाद अब हर घर तक राशन, सब्जी व दैनिक उपयोग का सामान पहुंचाने की योजना शुरू की है।
राशन, सब्जी व दैनिक उपयोग के सामान पहुंचाने की जिम्मेदारी उत्थान सेवा संस्थान को सौंपी गई है। अमेठी, रायबरेली व सुलतानपुर जिला प्रशासन से संसदीय क्षेत्र के गांवों के ऐसे परिवारों की सूची मांगी गई है। जिन्हें अभी किसी और योजना से पात्र होने के बाद भी मदद नहीं मिल पाई है। इन्हें मोदी किट दिया जाएगा। पीडि़त परिवार को संकट के समय मदद के लिए तैयार की गई मोदी किट में पांच किग्रा आटा, पांच किग्रा चावल, एक किग्रा अरहर की दाल, ढाई किग्रा आलू, दो सौ ग्राम तेल, 50 ग्राम सब्जी मसाला, 50 ग्राम हल्दी पाउडर व एक किग्रा नामक रखा गया है। केंद्रीय मंत्री के प्रतिनिधि विजय गुप्ता के अनुसार इससे लोगों को राहत मिलेगी।


यूपीः 17140 लोगों के खिलाफ मामले

बृजेश केसरवानी


लखनऊ। कोरोना संकट को देखते हुए पूरे देश में अभूतपूर्व लॉकडाउन के बावजूद कुछ सारे किये कराए पर पानी फेरने पर आमादा हैं। उत्तर प्रदेश में अब तक लॉकडाउन के उल्लंघन में धारा 188 के तहत 17140 लोगों के खिलाफ 5516 प्राथमिकी दर्ज की गई। अतिरिक्त मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि पुलिस ने आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत 58 एफआईआर दर्ज की हैं। इसके साथ ही पुलिस ने अब तक 1.31 लाख वाहन सीज भी किए हैं।  कोरोना से लड़ाई में पुलिस दूसरों की मदद के लिए वालंटियर बनाने से लेकर कई बड़े कदम उठा रही है। इसी कड़ी में वाराणसी, मऊ, मीरजापुर और भदोही में पुलिस- पब्लिक अन्नपूर्णा बैंक की शुरुआत की गई है। लॉकडाउन के मद्देनजर असहाय, श्रमिकों व अन्य जरूरतमंद परिवार को फूड पैकेटश,राशन, दवाएं व अन्य घरेलू आवश्यक वस्तुओं को उपलब्ध कराने के लिए इस बैैंक की स्थापना की गई है। इसके जरिए जरूरतमंदों को आवश्यक वस्तुओं का वितरित किया जा रहा है। इस सेवा में सामाजिक संगठन व लोग सहयोग भी कर रहे हैं। इसे अन्य जिलों में विस्तार देने की भी तैयारी है।पुलिस ने कोरोना संक्रमण की जंग में दूसरों की मदद के लिए आगे आए लोगों को वालंटियर बनाने की प्रकिया शूरू कर दी है। 112 पर दूसरों की मदद के लिए कॉल करने वालों को वालंटियर बनने के लिए ऑनलाइन राहत फार्म भरने की जानकारी दी जा रही है। एडीजी 112 ने बताया कि सेवा शुरू करने के साथ ही पहले घंटे में 400 से अधिक वालंटियर आवेदन कर चुके हैं। लोगों के आवेदनों को संबंधित जिलों में भेजा जा रहा है।


गरीब हित के लिए सपा संवेदनशील

बृजेश केसरवानी


लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि कोरोना वायरस की महामारी की वजह से देश में अचानक लागू हुए लॉकडाउन से उत्तर प्रदेश की सड़कों पर लाखों लोग भूखे-प्यासे हैं। इन हालात में सत्ताधारी दल की जिम्मेदारी जहां ज्यादा है, वहीं मुख्य विपक्षी दल के रूप में सपा भी जनता के दुख-दर्द के प्रति पूरी तरह संवेदनशील है। गरीबों, असहायों की मदद में पार्टी के वरिष्ठ नेता, सांसद, विधायक तथा कार्यकर्ता दिन रात सक्रिय हैं। उन्होंने अपना आर्थिक सहयोग भी दिया है।अखिलेश यादव ने रविवार को एक बयान जारी कर कहा कि पलायन की भारी भीड़ और गरीबों की मुसीबतों को देखते हुए हमारा सुझाव है कि भाजपा सरकार समाजवादी सरकार के समय भोजन के लिए वितरित किए गए समाजवादी राहत पैकेट को बांटने का निर्देश जिलाधिकारियों को दे। इसके नियम पहले से बने हैं, सरकार चाहे तो इसका नाम बदल दे।अखिलेश यादव ने कहा कि खड़ी ट्रेनों को अगले कुछ दिनों के लिए अस्थायी रैन बसेरों में तब्दील किया जाए। जो यात्री रास्ते में फंसे हैं उनको तत्काल घर पहुंचाने की व्यवस्था की जाए। समाजवादी पेंशन, मनरेगा, किसान सम्मान राशि फिर शुरू की जाए। बैंक प्रतिनिधियों को सुरक्षा देकर घर-घर पैसा पहुंचाने की व्यवस्था हो। मोबाइल दुकानों से राशन का वितरण हो।अखिलेश यादव ने कहा कि सपा कार्यकर्ता व पदाधिकारी दिनरात जरूरतमंदों की मदद में लगे हैं। वे लोगों को खाने के पैकेट, पानी, मास्क बांट रहे हैं। बीमारों को दवाएं पहुंचा रहे और बुजुर्गों का ख्याल रख रहे हैं। अखिलेश ने कहा कि इस समय विपक्ष पर कटाक्ष करने वाले अपने सिपहसालारों पर भाजपा को अंकुश लगाना चाहिए।


पानीपत में पुलिस पूरी तरह मुस्तैद

पानीपत पुलिस प्रशासन पूरी तरह मुस्तेद, बिना कार्य के सड़को पर दिखने वालो लोगो पर दिखाई सख्ती

पानीपत (राजेश ओबराय)। हरियाणा के पानीपत शहर में आज पुलिस प्रशासन पूरी तरह से सख्त दिखाई दिया। पूरी मुस्तैदी बरतते हुए पुलिस ने बेवजह सड़कों पर दिखाई देने वाले लोगों और वाहन के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करी। बीते कल तक पानीपत में कानून व्यवस्था लचर दिखाई दे रही थी। परन्तु आज पुलिस के बड़े अधिकारियों के आदेश से सड़को पर पुलिस द्वारा सख्ती बरतने के कारण सड़क लगभग खाली दिखाई दे रही है। पुलिस द्वारा जगह जगह नाके लगा कर वाहनों को रोका जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार गाड़ियों को इम्पाउंड भी किया जा रहा है। यदि इसी तरह से प्रशासन सख्ती बरतता रहा तो फिर कोरोना वायरस पर काबू पाया जा सकता है।


सिलेंडर में आग, दो मासूमो की मौत

कुशीनगर। पडरौना कोतवाली के गम्भीरिया टोला बसंतपुर मे  गैस सिलेंडर से लगी आग मे दो मासुमो की मौत धर के अन्दर हो गयी। मौके पर जिलाधिकारी ने पहुच स्थित का जायजा लिया। बताते चले कि परिजनों ने बच्चों को धर के अन्दर कोरोना वायरस के मद्वेनजर सुरक्षा की दृष्टि से बाहर से कुन्डी लगाकर बन्द कर दिये। तथा अपने  खेत मे काम करने चले गये थे। इसी दौरान गैस सिलेंडर से आग लग गयी ।पक्की मकान होने के चलते बच्चे धर से बाहर भाग नही पाये ।सुचना पाकर मौके पर जिलाधिकारी भुपेन्द्र एस चौधरी उपजिलाधिकारी सदर रामकेश यादव प्रभारी निरीक्षक पवन कुमार सिह मयफोर्स उक्त गाव मे पहुच कर स्थित का जायजा लिया ।शव को पुलिस ने अपने कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज पुलिस अगली कार्यवाही मे जुट गयी ।
प्रभारी निरीक्षक पवन कुमार सिह ने बताया कि मृतक करिश्मा 7बर्ष.सुजीत कुमार उम्र 5बर्ष पुत्र तुफानो  के शव कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया हैं। 
रामायण यादव


संकल्प के प्रति 'संपादकीय'

संकल्प के प्रति  'संपादकीय'


रणभूमि में जो सबसे आगे और आतुर है। वह प्रत्येक दशा में वीर है। वह चतुर है या नहीं, यह बात कोई मायने नहीं रखती है। आज देश इतने बुरे दौर से गुजर रहा है। जो लोग हर मंच और भीड़ में आगे नजर आते थे। वे सब मृत्यु के भय से कहीं दुबक कर बैठ गए हैं। भय का आवरण ओढ़ने के कारण उनका गला सूखता जा रहा है। इसीलिए कर्म हीन सदा संसार में अपयश को प्राप्त होता है। सामर्थ हीन और अभावग्रस्त जनता पीड़ा का अर्थ बखूबी समझ रही है। जो वेदना और संवेदना को प्रतीत कर रहे हैं। अपने दायित्व निर्वाह करने में स्वयं को असफल और विवश प्रतीत कर रहे हैं। ऐसे समस्या ग्रस्त लोगों का किसी प्रकार कोई अनुमान निर्धारित करना घोर मूर्खता ही साबित होगी। साथ-साथ चटुकारिता करने वाले पत्रकारों पर भी लानत है। जो अपने कर्तव्य से भटक गए हैं। समाज को संकट की विषम परिस्थितियों में वास्तविकता दिखाने वाले, बताने वाले दर्पण की आवश्यकता होती है। लेकिन यह बात समर्पित भाव का ज्ञान रखने वाले लोग ही समझ पाएंगे। जो खुद अपने निजी स्वार्थों के कारण एहसानों की जंजीरों में कैद है। उनसे भला क्या उम्मीद की जा सकती है? जो नेता अथवा जनप्रतिनिधि जनता के सामने नए-नए डोंग का स्वांग रचते थे। उनकी भी असलियत आज जनता स्वयं देख रही है। इस बात को आप भी बखूबी जानते हैं। आदर्शों की बकवास करने से कोई आदर्शवादी नहीं बनता है। जो आदर्श और सिद्धांतों को आत्मसात कर लेता है। उसे बखान करने की जरूरत ही नहीं पड़ती है। उसकी निष्ठा और कर्तव्य स्वयं उदाहरण के रूप में प्रस्तुत रहते हैं।
 देश में 'सामाजिक दूरी' का ध्यान रखने के साथ-साथ अपनी निर्धारित 'सामाजिक परिधि' के सिद्धांत पर समाज को आगे बढ़ने की जरूरत है। एक दूसरे का सहयोग और सेवा करने की जरूरत है। इस खाई को पाटने का कार्य उद्देश्य हित साधने के लिए सामाजिक संस्थाओं को ही पहल करनी होगी। सामाजिक संस्थाओं ने स्वयं इस उद्देश्य पूर्ति हेतु यह संकल्प लिया है। जिसे निभाने का सही वक्त है। सरकार सभी को सुरक्षित रखने का प्रयास कर रही है। निरंतर विभिन्न प्रकार के आयामों पर कार्य भी किया जा रहा है। लेकिन यह सरकार की पहुंच से बाहर है।


राधेश्याम 'निर्भयपुत्र'


हापुड़ः एंबुलेंस कर्मियों को वेतन नहीं

अतुल त्यागी


हापुड़। सूचना विभाग हापुड़ सोशल मीडिया पर प्रसारित 108/ 102/ एएलएस एंबुलेंस कर्मियों द्वारा एंबुलेंस कर्मियों को 6 माह से वेतन न मिलने, कोरोना वायरस को दृष्टिगत रखते हुए सुरक्षा एवं एंबुलेंस को सैनिटाइज व जीवन सुरक्षा बीमा न दिए जाने के संबंध में हड़ताल किए जाने की खबर प्रकाशित की गई। जिस के क्रम में मुख्य चिकित्सा अधिकारी हापुड द्वारा संज्ञान लेते हुए एंबुलेंस कर्मियों के जिला अध्यक्ष विकास चौधरी एवं जिला समन्वयक राजेश मिश्री से वार्ता की गई और उन्हें अवगत कराया गया की मिशन निदेशक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उत्तर प्रदेश लखनऊ द्वारा संबंधित एजेंसी को एंबुलेंस कर्मियों के मासिक मानदेय का भुगतान एक-दो दिन के अंदर संबंधित के खातों में आहरित करने के निर्देश दिए गए हैं। एंबुलेंस कर्मियों के जीवन बीमा के संबंध में संबंधित एजेंसी को लिखित में मांग पत्र प्रेषित करने के निर्देश दे दिए गए हैं जिसके प्राप्त होने पर अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की तरह जीवन बीमा की सुविधा उपलब्ध कराने हेतु भारत सरकार को संस्तुति के लिए पत्र प्रेषित कर दिया जायेगा। उक्त कार्यवाही से संतुष्ट होते हुए जिला अध्यक्ष एवं जिला समन्वयक द्वारा अपने पत्र 30 मार्च 2020 द्वारा सहमति प्रदान की गई है। इस प्रकार जनपद हापुड़ में समस्त 108/102/एएलएस एंबुलेंस सेवाएं निर्वाध रूप से संचालित है तथा कोई हड़ताल नहीं होगी। जनपद वासियों को परेशान होने की कोई आवश्यकता नहीं है जनपद वासी इन सेवाओं का आवश्यकता अनुसार उपयोग कर सकते हैं। यह जानकारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी रेखा शर्मा द्वारा दी गई है जिला सूचना अधिकारी हापुड़।


हादसे को दावत, एनटीपीसी का फाटक

जानलेवा हैं दादरी एनटीपीसी का बिना फाटक रेलवे क्रासिंग



दादरी। गौतमबुद्ध नगर जनपद के दादरी क्षेत्र के गाँव सलारपुर कला एनटीपीसी रेलवे लाइन व रेलवे क्रासिंग मानव रहित हैं।इन पर अब तक दर्जनों हादसे हो चुके हैं। इनमें काफी हद तक लोग घायल भी हो चुकी थे। दर्जनों पशु भी जान गंवा चुके हैं। जिले में रेलवे लाइन बने काफी साल से अधिक समय बीत जाने के बाद भी मानव रहित रेलवे क्रासिंग पर फाटक लगाने की दिशा में एनटीपीसी रेल प्रशासन ने कोई पहल नहीं की है। 
बिना फाटक रेलवे क्रासिंग पर हादसों की आशंका बनी रहती है। रेलवे क्रासिंग पर फाटक नहीं होने से ग्रामीणों के पशु भी अक्सर ट्रेन की चपेट में आकर मर जाते हैं। हादसों के बाद ग्रामीणों ने फाटक लगवाने की मांग तो उठाई लेकिन एनटीपीसी रेलवे प्रशासन ने आज तक कोई सुनवाई नही की। लोगों का कहना है कि सलारपुर कला रेलवे क्रासिंगों पर फाटक लगवाए जाने चाहिए।यह रास्ता आस-पास के काफी गाँव जैसे सलारपुर कला,,मुठयानी,लतीफपुर नरौली,दादुपुर खटाना,आदि गाँव को एक दूसरे से जोड़ते है और मामला यहीं नहीं थमता लोग अपनी जान को जोखिम में डालकर अपने मजदूरी करने  व छोटे बच्चे पढ़ने के लिए  रेलवे क्रॉसिंग के नीचे से जाते है।
रिपोर्ट:-ठा0अमित शिशौदिया


जरूरतमंदों को दिए खाने के पैकेट

भाजपा नेता ईश्वर मावी ने लोनी नगर पालिका क्षेत्र की दर्जनो कालोनियों व ग्रामीण क्षेत्र की भी कई कालोनियों में लोगों को खाने के पैकेट वितरित किये।


इस दौरान भाजपा नेता ईश्वर मावी ने लोनी के लोगों से कहा कि वह संकल्प लें कि लोनी में कोई भूखा ना रहे।


इकबाल अंसारी


गाजियाबाद। भाजपा नेता ईश्वर मावी ने आज लोनी नगर पालिका क्षेत्र की सरल कुंज, आनंद विहार, सरस्वती विहार, नाईपुरा, पुष्पा गार्डन आदि दर्जनों कालोनियों में अपने समर्थकों के साथ हजारों लोगों को भोजन के पैकेट वितरित किए वही ग्रामीण क्षेत्र की श्रीराम कालोनी, इंद्र्प्रस्थ कालोनी व अम्बेडकरपुरम आदि कालोनियों में उनके सुपुत्र सूरज मावी व नीरज मावी ने अपने दोस्तों के साथ सैकड़ों लोगों को भोजन के पैकेट वितरित किए।
इस दौरान भाजपा नेता ईश्वर मावी ने कहा कि कोरोना के कारण लोनी में हजारों लोगों के सामने रोटी का संकट पैदा हो गया है लोनी में लाखों लोगों की आबादी है इनमें ज्यादातर लोग रोजाना की मजदूरी वाले हैं जिनके पास खाने के लिए कुछ नहीं है उन्होंने लोनी के लोगों से अपील की कि वह संकल्प लें कि लोनी में कोई भी व्यक्ति भूखा ना रहे उन्होंने कहा कि लोगों को इस संकल्प की शुरुआत अपनी गली मोहल्ले से करनी चाहिए गली के लोगों को ऐसे परिवार का पता लगाकर उसकी मदद करनी चाहिए।
इस दौरान पार्षद विनोद नागर, ज्ञानेंद्र नागर, अनिल जाटव, अशोक भाटी, अमित धामा, बिट्टू नागर, सोनू जाटव, बबलू गुर्जर, मुखिया गुर्जर, मनोज कुमार व नितिन शर्मा आदि लोगों ने अलग अलग रहकर लोगों को भोजन वितरित किया।


योगी ने व्यवस्था के दिए निर्देश

अकाशुं उपाध्याय


लखनऊ। दिल्ली या अन्य प्रदेशों में रहने वाले उ0प्र0 के निवासियों की फोन कॉल्स को पूरी संजीदगी से लिया जाए, उनकी कठिनाइयों का हर सम्भव निराकरण किया जाए प्रदेश के निवासियों के ठहरने के लिए यदि अतिरिक्त आवासीय परिसरों की आवश्यकता हो तो नोएडा/ग्रेटर नोएडा प्राधिकरणों की मदद से उन्हें चिन्हित कर व्यवस्था कर ली जाए, कण्ट्रोल रूम में कार्यरत कर्मी कॉलर से अतिविनम्रता व शालीनता से बात करें।


 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने लॉकडाउन से उत्पन्न परिस्थितियों के दृष्टिगत प्रदेश के निवासियों की समस्याओं के निराकरण हेतु नई दिल्ली स्थित उत्तर प्रदेश भवन में स्थापित कण्ट्रोल रूम का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने निर्देश दिए कि दिल्ली या अन्य प्रदेशों में रहने वाले उत्तर प्रदेश के निवासियों की फोन कॉल्स को पूरी संजीदगी से लिया जाये तथा उनकी कठिनाइयों का हर सम्भव निराकरण किया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि कॉलर को आश्वस्त किया जाये कि दिल्ली या जहां पर भी वह रह रहा है, वहां से बाहर जाने में कोरोना वायरस से उसकी जान को खतरा है, अतः उसके ठहरने, खाने, व उपचार की पूरी व्यवस्था उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा की जा रही है और उसकी सभी समस्याओं का समाधान यहीं पर किया जायेगा।


सीएम योगी के आदेश अनुरूप काम

जौनपुर। बरसठी ब्लॉक ग्राम पंचायत गोहका के विकास अधिकारी अंजली श्रीवास्तव व सहायक विकास अधिकारी श्री राजेश कुमार ग्राम प्रधान डॉ मनोज यादव व उनकी पूरी टीम सरकार की तरफ से आई हुई राहत सामग्री जिसमें 5 किलोग्राम आटा 2 किलो चावल 1 किलो चीनी 1 किलो दाल एक पैकेट नमक 10 पैकेट बिस्किट 250 ग्राम सरसों का तेल वह एक पैकेट मसाला जो सभी भूमिहीन व वनवासी समाज के लोगों को घर-घर जाकर पहुंचाया। राहत सामग्री और अधिकारियों ने उन्हें आश्वासन दिया। आगे भी सरकार की तरफ से आई  हुई सहायता इसी तरह से आप लोगों तक पहुंचती रहेगी। आप लोगों को घबराने की जरूरत नहीं।


प्रधान हो तो ऐसा डॉ मनोज यादव व उनकी पूरी टीम ने सभी लोगों का फ्री मेडिकल चेकअप किया और उन्हें मास्क साबुन और पैसों व बीमारों को दवा की भी मदद किया  और आश्वासन दिया की आगे भी उनकी मदद करता रहूंगा।  उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है गांव का प्रधान होने के नाते मैं अपने कर्तव्य का पालन करता रहूंगा और किसी को भी भूखे नहीं मरने दूंगा जब तक लॉक डाउन चलेगा जब तक स्थिति सामान्य नहीं हो जाती तब तक हम इन लोगों की मदद करते रहेंगे आप लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है दवा से लेकर खाने-पीने की सामग्री से लेकर पैसों से हर तरह से हम आप लोगों की मदद करते रहेंगे।


विधायक के प्रयास से काफी राहत

बांदा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहे देश में 21 दिन के लिए लॉक डाउन किया गया है। जिसके चलते गरीब ,असहायों और मजदूरों को मूलभूत समस्यायों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में पूरे देश से मदद की तस्वीरें सामने आ रही हैं। ऐसी ही एक तस्वीर बुन्देलखण्ड के बांदा से आई है जहां बाँदा सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी मुसीबत में फंसे ऐसे सभी लोगो के लिए देवदूत बनकर सामने आए हैं। हर दिन सैकड़ो लोगो को लंच पैकेट दिए जा रहे हैं और कोरोना से बचने के उपाय भी बताए जा रहे है। 


सबसे खास बात ये है कि ऐसे समय मे भी पीएम नरेंद्र मोदी सबके बीच हैं। भोजन के लंच पैकेट जो दिए जा रहे हैं वो मोदी लंच पैकेट के नाम से दिए जा रहे हैं। सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी द्वारा लंच पैकेट के अलावा आटा ,दाल, चावल, नमक आदि राशन सामग्री गरीब बस्तियों में जाकर किया जा रहा है। इसके साथ ही लोगों से अपने घरों में स्वच्छता और सतर्कता के साथ रहने की अपील की जा रही है। सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी अपनी टीम के साथ विगत दिनों की भांति आज भी भोजन के लंच पैकेट बटवाते रहे।उन्होंने अपने कैम्प कार्यालय को ही कंट्रोल रूम बना रखा है। एक नम्बर भी जारी किया है। अगर आपको कहीं भी कोई समस्या है तो लंच पैकेट पहुचेगा आपके घर तक।  फिलहाल ऐसे मदद के हाथ गरीब और असहायों के लिए काफी राहत साबित हो रहे हैं।


युवक से मिला प्रतिबंधित पशु का मांस

तिलोई/अमेठी। थाना शिवरतनगंज पुलिस ने क्षेत्र के कस्बा सातनपुरवा में सोमवार को प्रतिबंधित पशुओं के मांस के साथ एक युवक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने पकड़े गये कारोबारी के खिलाफ मुकदमा दर्जकर जेल भेज दिया है।थानाध्यक्ष अजीत कुमार सिंह ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर पुलिस द्वारा जब छापेमारी की गई तो युवक के कब्जे से प्रतिबंधित पशुओं का सात किलो मांस बरामद हुआ है। उन्होंने बताया कि पकड़े गये युवक की शिनाख्त अंसार पुत्र मुसीबत अली निवासी ग्राम सातनपुरवा के रुप में हुई है।थानाध्यक्ष ने बताया कि पकड़े गये युवक के खिलाफ सम्बंधित धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है।


बिजनौर में ढाई सौ परिवारों की मदद

शेरकोट/बिजनौर। शेरकोट मुस्लिम फंड शेरकोट ने आज 31 मार्च को ढाई सौ परिवार को 5 किलो गेहूं 5 किलो चावल प्रत्येक को ₹100 मदद के रूप में वितरण। जिसमें मुस्लिम फंड शेयरकोट के मौलाना अब्दुल रहमान सचिव के साथ मुस्लिम फंड मैनेजर मोहम्मद रफीक आज रईस कुरैशी डायरेक्टर मुस्लिम फंड शेरकोट मुस्लिम फंड की पूरी कमेटी मौके पर उपस्थित रहे। सभी को आर्थिक मदद करके मौलाना मौलाना उवेदुर्रहमान ने बताया कि हमने अभी ढाई सौ परिवारों को वितरण किया है और मदद की है हम अभी और पर्ची बाटेंगे जो गरीबों को जरूरी सामान होगा वह मुहैया कराया जाएगा कोरोना के चलते आम आदमी के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा हो गया है। हमारी संस्था गरीबो के दुःख में हमेशा साथ देती आई है और आज के हालात देखते हुऐ हमारी संस्था ने आज भी गरीबो को राशन वितरण किया हैं और आगे भी करते रहगे।
रिपोर्ट-अमित कुमार रवि


उत्तराखंड से जमात में 34 लोग शामिल

देहरादून। दिल्ली की तबलीगी जमात में उत्तर प्रदेश समेत देश के विभिन्न राज्यों के लोग शामिल हुए थे। यूपी के 18 जिलों से जमात में शामिल 157 लोग वापस अपने गांवों और क्षेत्रें में पहुंच चुके हैं। इस जमात में शामिल 24 लोग कोरोना से पॉजिटिव पाए गए हैं। अब तक 7 लोगों की मौत भी हो चुकी है। चिंता की बात ये है कि उत्तराखंड के विभिन्न जिलों के 34 लोग इसमें शामिल होने दिल्ली गए थे। कोरोना से लड़ने के लिए केंद्र और राज्य सरकारें लगातार प्रयास कर रही हैं। पूरे देश को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन किया गया है। इस बीच दिल्ली से एक ऐसी खबर आई, जिसने पूरे देश को चिंता में डाल दिया। उत्तराखंड को भी इस बात की चिंता सता रही थी कि कहीं उत्तराखंड के लोग भी तो उस तबलीगी जमात में शामिल नहीं हुए हैं। सरकार चिंता सच साबित हुई। दिल्ली से मिली जानकारी के बाद एक बात सामने आई है कि हरिद्वार जिले के 11लोग तबलीगी जमात में शामिल हुए थे और वापस हरिद्वार लौट चुके हैं। इनसे अब अन्य लोगों में कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया है।प्रशासन अब उन लोगों की जानकारीजुटाने में लगा हुआ है।


डासना जेल से 89 बंदियों को किया रिहा

गाजियाबाद। गाजियाबाद की डासना जेल से सोमवार को 89 बंदियों को रिहा किया गया। इसमें एक महिला भी शामिल है. रिहा होने वाले बंदियों ने बताया कि उन्हें कोरोना वायरस के कारण 2 महीने की परोल पर छोड़ा जा रहा है।इतना ही नहीं सरकार इन सभी बंदियों को उनके घर तक पहुंचाएगी। देशभर में कोरोना वायरस का खौफ मंडराया हुआ है। इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए पूरे देश को लॉकडाउन किया गया है। वहीं, सरकार और सुप्रीम कोर्ट ने एक फैसला लिया है कि जो बंदी अंडर ट्रायल के चलते पिछले काफी समय से जेल में बंद हैं उन्हें 2 महीने की परोल पर रिहा किया जाए।


जेलों में बंदियों की संख्या में कमी लाने का यह फैसला सोशल डिस्टेंस और जेल में कोरोना से बचाव के लिए लिया गया है। जेल से घर जा रहे बंदियों से आजतक ने बात की। लंबे समय तक जेल की सलाखों के पीछे गुजार चुके ये कैदी सरकार के इस फैसले से बेहद खुश हैं। उनके मुताबिक, लंबे समय बाद वे अपने परिवार के साथ रह पाएंगे। वहीं, 2 महीने की रिहाई पर छूटे कुछ कैदियों का कहना है कि उनसे कुछ गलती हुई जिसके चलते उन्हें जेल में रहना पड़ा। अब अपने साथियों को भी ये मैसेज देना चाहते हैं कि कोई ऐसा काम नहीं करना चाहिए जिससे जेल जाना पड़े।


तेलंगाना में 6 लोगों की मौत, अलर्ट जारी

सरवन कुमार सिंह


हैदराबाद। उत्तर प्रदेश पुुलिस ने दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में एक जमात में एकत्र हुए छह लोगों की तेलंगाना में मौत के बाद पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अलर्ट जारी किया है। पश्चिमी यूपी के जिलों में पुलिस अधीक्षकों से कहा गया है कि निजामुद्दीन में हुई जमात में शामिल अपने इलाके के लोगों की पहचान कर उनकी मेडिकल जांच कराई जाए।


एसपी कानून-व्यवस्था अभय शंकर की ओर से गाजियाबाद, मेरठ, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, हापुुड़, बिजनौर, बागपत, वाराणसी, भदोही, मथुरा, आगरा, सीतापुर, बाराबंकी, प्रयागराज, बहराइच, गोण्डा व बलरामपुुर के पुलिस अधीक्षकों को अलर्ट किया गया है। पत्र में कहा गया है कि दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन इलाके में फारेन टीम्स आफ तब्लीगी जमात में उत्तर प्रदेश के आने वालों की सूूची संलग्न कर भेजी जा रही है। कृपया सूची के मुताबिक सभी व्यक्तियों की कोरोना वायरस के मद्देनज़र जांच की जाए। सूची में दिए गए लोगों के नाम के मुताबिक अगर वे संक्रमित पाए जाएं तो उन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया जाए। इस संबंध में डीजीपी मुख्यालय ने सभी पुलिस अधीक्षकों से मंगलवार दोपहर 3 बजे तक रिपोर्ट भी मांगी है। बता दें कि दक्षिणी दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में करीब दो हजार लोग शामिल हुए थे, जहां से अब देशभर में कोरोना के संक्रमण फैलने का मामला सामने आया है। मरकज में आए लोगों में से अब तक सिर्फ राजधानी दिल्ली में ही 24 में कोरोना पॉजिटिव केस सामने आया है। इनमें कोरोना पॉजिटिव के छह मामले रविवार को सामने आए थे जबकि सोमवार को 18 मामले आए हैं। मरकज में शामिल होने आए लोगों में करीब 100 से ज्यादा विदेशी थे, बांग्लादेश, श्रीलंका, अफगानिस्तान, मलेशिया, सऊदी अरब, इंग्लैंड और चीन से थे। वहीं, तेलंगाना के मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि मरकज में शामिल होने के लिए दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में 13 और 15 मार्च को कई लोग गए थे। उनमें से कुछ लोग तेलंगाना के भी थे। इनमें से छह लोगों की मौत हो गई है। तेलंगाना के मुख्यमंत्री कार्यालय ने कहा कि जिन छह लोगों की मौत हुई है, वे सभी कोरोना पॉजिटिव थे।


महामारी के खिलाफ जंग में 'हिटमैन'

नई दिल्ली। जानलेवा बीमारी का प्रकोप इतना बढ़ गया है कि दुनिया भर में 37,000 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। भारत में 35 से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।


कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी के खिलाफ जंग के मैदान पर अब टीम इंडिया के धाकड़ बल्लेबाज ‘हिटमैन’ रोहित शर्मा उतर आए हैं। टीम इंडिया के वनडे और टी-20 उपकप्तान रोहित शर्मा ने इस जानलेवा वायरस से लड़ने के लिए अपना योगदान देने का ऐलान किया है।


धोनी को अभी खेलने की जरूरत

नई दिल्ली। पूर्व भारतीय ऑलराउंडर इरफान पठान का मानना है कि दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी को अभी क्रिकेट खेलने की जरूरत है और अगर वह खेलते हैं तो उन्हें भारत के लिए खेलना चाहिए। इरफान पठान ने कहा, ‘महेंद्र सिंह धोनी को खेलने की जरूरत है। अगर वह ऐसा करते हैं तो निश्चित रूप से उन्हें भारत के लिए भी खेलना चाहिए। वह भारत के सबसे बेहतरीन क्रिकेटरों में से हैं।


उन्होंने कहा, ‘महेंद्र सिंह धोनी ने विश्व क्रिकेट को काफी कुछ दिया है, लेकिन अगर धोनी को टीम में शामिल किया जाता है तो क्या ये उन खिलाड़ियों के साथ सही होगा जो नियमित तौर पर उनकी जगह टीम इंडिया का हिस्सा हैं।’ इरफान पठान ने कहा, ‘लोकेश राहुल और ऋषभ पंत नियमित तौर पर करीब एक साल से भारतीय टीम में खेल रहे हैं। ऐसे में बोर्ड को इस सवाल का जवाब देना चाहिए। अब धोनी का वक्त खत्म हो चुका है और इस साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप में उनका खेलना संभव नहीं है। महेंद्र सिंह धोनी ने अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच जुलाई 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप का सेमीफाइनल खेला था। पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने कहा था कि सेलेक्टर्स अब आगे की सोच रहे हैं। केएल राहुल अब बल्लेबाजी के साथ विकेटकीपिंग में अच्छा कर रहे हैं। वहीं, ऋषभ पंत भी इस लिस्ट में शामिल हैं. सहवाग के मुताबिक धोनी अगर IPL में अच्छा प्रदर्शन करते भी हैं तो टीम इंडिया में उनकी वापसी आसान नहीं। वीरेंद्र सहवाग ने कहा था कि IPL 2020 भी एमएस धोनी की वापसी की गारंटी नहीं होगा। ‘मुझे नहीं लगता कि धोनी इस साल अक्टूबर में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप में खेल पाएंगे। हो सकता है कि धोनी का आईपीएल अच्छा हो, लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि शायद यह काफी नहीं, यह इससे आगे की बात है। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने हाल ही में कहा था कि मैं निश्चित रूप से धोनी को टी-20 वर्ल्ड कप टीम में देखना चाहूंगा, लेकिन ऐसा संभव नहीं होगा। गावस्कर ने कहा था, ‘अब टीम इंडिया आगे बढ़ गई है। धोनी कोई बड़ी घोषणा करने वाले नहीं हैं, इसलिए मुझे लगता है कि वह चुपचाप क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे।


प्रवासी नहीं जा सकेंगे अपने घर

चंदौली। लॉकडाउन के बाद आनन-फानन में दूसरे राज्यों से अपने घरों को निकले मजदूर अपने जिले में पहुंचने के बाद भी 14 दिनों तक घर नहीं जा सकेंगे। पहले तो इन्हें जिला मुख्यालय पर बने क्वारंटाइन सेंटर में ही रोका जाएगा। यदि किसी तरह गांव पहुंच गए तो वहां पर भी अपने घर नहीं रह सकेंगे। गांवों में भी ऐसे लोगों के लिए क्वारंटाइन सेंटर बनाए जा रहे हैं। गांव के प्रधान और पंचायत सचिव ऐसे लोगों के रहने और खाने पीने का प्रबंध करेंगे।


स्वास्थ्य विभाग की टीमें गांवों में पहुंचकर ऐसे लोगों की जांच करेगी। 14 दिनों तक अलग-थलग रहने और स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्वस्थ घोषित किए जाने के बाद ही ऐसे लोग अपने घरों में जा सकेंगे। दूसरी ओर पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए गए हैं कि दूसरे राज्यों व विदेश से आने वाले लोगों की तलाश में इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस की भी मदद लें।दिल्ली से आनन फानन में बड़ी तादाद में प्रदेश लौटे मजदूरों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए थे कि जो भी राज्य में आए हैं या पहले से हैं उनकी पूरी जिम्मेदारी सरकार उठाएगी। उन्हें भोजन, पानी, दवा देंगे। ऐसी व्यवस्था की जाएगी कि ऐसे लोगों के कारण बाकी लोगों के स्वास्थ्य को कोई खतरा ना हो। वहीं मुख्य सचिव आरके तिवारी ने जिलों के डीएम और पुलिस कप्तानों को यह निर्देशित किया है कि अन्य जिलों से लौटने वाले लोगों को क्वारंटाइन में रखा जाए। क्वारंटाइन के दौरान उनका चिकित्सीय परीक्षण कराया जाए और खाने पीने का इंतजाम किया जाए। इन निर्देशों के बाद ग्रामीण स्तर तक काम शुरू हो गया है। राज्य के हर गांव में प्रधान, पंचायत सचिव, स्थानीय पुलिस, स्वास्थ्य विभाग की टीम मिलकर सुरक्षा घेरा तैयार कर रही है। मिली जानकारी के मुताबिक 21 मार्च के बाद दिल्ली व अन्य राज्यों से अपने गांव पहुंचे लोगों की सूची तैयार कर प्रधान और पंचायत सचिव के स्तर से स्थानीय प्रशासन के अधिकारी तैयार करा रहे हैं। गांव के सरकारी स्कूल, पंचायत भवन, सामुदायिक भवन तथा अन्य ऐसे ही सा‌र्वजनिक स्थलों को क्वारंटाइन सेंटर बनाया जा रहा है।


जम्मू-कश्मीर मेंं संक्रमितो की संख्या 38

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में रविवार को पांच और पॉजिटिव मामले दर्ज किए गए, जिसके बाद राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 38 हो गई है। सरकार के प्रवक्ता रोहित कंसल ने कहा, “कश्मीर में पांच और पॉजिटिव मामलों की पुष्टि की गई, जिसमें 2 श्रीनगर, 2 बडगाम, 1 बारामूला से हैं।”


इससे पहले एक कोविड-19 रोगी ने श्रीनगर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था। पीड़ित मरीज लगभग 60 साल का था, जो बारामुला जिले के तंगमर्ग इलाके का रहने वाला था। पांच पॉजिटिव मामों के साथ राज्य में कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 38 हो गई है, जिनमें से 29 कश्मीर में और नौ जम्मू के अस्पतालों में हैं।


दिल्ली में कोरोना का प्रकोप, स्टेज 2

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ‘कोविड-19′ को लेकर दिल्ली में मंगलवार को राहत भरी खबर रही। पिछले 40 घंटों के दौरान राजधानी में वायरस से संक्रमित कोई नया मरीज सामने नहीं आया है। केजरीवाल ने कहा, “दिल्ली में कोरोना वायरस का प्रकोप अभी स्टेज-2 पर है। ईश्वर से दुआ है कि यह स्टेज-3 पर न पहुंचे लेकिन ऐसा होता है तो हमारी तैयारियों में कमी नहीं रहनी चाहिए।


डॉ. सरीन की अध्यक्षता में गठित पांच डॉक्टरों की टीम मुझे 24 घंटों में रिपोर्ट देगी की हमें स्टेज-3 के लिए तैयार रहने के लिए कौन से कदम उठाने चाहिए।” मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाददाताओं से कहा कि पिछले 40 घंटों के दौरान राजधानी में कोरोना वायरस से संक्रमित कोई नया मरीज नहीं आया है। उन्होंने कहा कि हमें सतर्क रहना है और पूरी ऐहतियात बरतनी है। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में कुल 31 मरीज सामने आये, जिनमें से वर्तमान में 23 संक्रमितों का उपचार चल रहा है जबकि छह ठीक होकर घर भेजे जा चुके हैं। दिल्ली में कोरोना वायरस के असर से एक महिला की मौत हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा,“ मुझे यह देखकर बहुत प्रसन्नता हो रही है कि लोग कैसे एक-दूसरे की मदद कर रहे हैं। लोग एक-दूसरे को खाद्य पदार्थ उपलब्ध करा रहे हैं, किराये की वसूली स्थगित करने के साथ ही बीमारों की भी सहायता कर रहे हैं। मैं पूरी तरह निश्चिंत हूं कि हम कोरोना वायरस के संकट से जल्दी ही सफलतापूर्वक पार पा लेंगे।” उन्होंने मकान मालिकों से आग्रह किया कि यदि कुछ किरायेदार कोरोना वायरस की वजह से वर्तमान में किराया चुका पाने में समर्थ नहीं है तो उन्हें दो-तीन माह की रियायत दें। मुख्यमंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार सभी दिहाड़ी मजदूरों और निर्माण कार्यों में लगे मजदूरों को एक माह के लिए पांच हजार रुपए देगी जिससे कि काम नहीं होने की वजह से उनके समक्ष जीवनयापन का संकट नहीं हो। सरकार दिल्ली में रात्रि आश्रय गृहों की संख्या भी बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि इटली और कुछ अन्य देशों में कोरोना वायरस का जो प्रकोप हुआ उसको देखते हुए हमें पहले से ही तैयार रहना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से आगे लड़ने के लिए हमनें पांच बड़े डाक्टरों की टीम बनाई है जो अगले 24 घंटे में कोरोना वायरस के प्रकोप के स्टेज-3 की तैयारियों पर रिपोर्ट देगी। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के कारण दिल्ली में लॉकडाउन है और राजधारी में धारा 144 लागू है। इस दौरान केवल दूध, सब्जी और राशन की दुकानों को खोलने की इजाजत है और कुछ आवश्यक सेवाओं में जुटे कर्मियों को आने-जाने की छूट है। दिल्ली की सभी सीमाएं सील की जा चुकी हैं और केवल आवश्यक सामान लाने वाले वाहनों को कर्फ्यू पास दिए गए हैं।


मरकज में क्वॉरेंटाइन सुविधा की पेशकश

नई दिल्ली। दिल्ली स्थित मरकज निजामुद्दीन में विभिन्न राज्यों से आए लोगों में तेलंगाना कुछ लोगों की कथित मौत के बाद मंगलवार को मरकज निजामुद्दीन ने अपने परिसर को संगरोध सुविधा के रूप में इस्तेमाल करने की सरकार को पेशकश की है।


मरकज ने जारी एक बयान में कहा है, “मर्कज निजामुद्दीन पूरे परिसर को वर्तमान में महामारी की चुनौती से निपटने में अधिकारियों की मदद करने के लिए एक संगरोध सुविधा के रूप में विनम्रतापूर्वक पेश करना चाहेगा।” बयान में यह भी स्पष्ट किया गया है कि तब्लीगी जमात का कार्यक्रम राजधानी और बाद में देश भर में तालाबंदी की घोषणा से पहले ही शुरू हुआ था। बयान में आगे कहा गया है, “जब माननीय प्रधानमंत्री ने 22 मार्च, 2020 को जनता कर्फ्यू की घोषणा की, केंद्र में चल रहे कार्यक्रम को तुरंत बंद कर दिया गया। हालांकि 21 मार्च, 2020 को देश भर में रेलवे के अचानक रद्द होने के कारण आगंतुकों का एक बड़ा समूह परिसर में फंस गया।” मरकज ने बयान में आगे कहा है, “जनता कर्फ्यू के दौरान आगंतुकों को सलाह दी गई कि वे रात नौ बजे तक बाहर न निकलें। लेकिन इसी बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री ने अगले दिन यानी 23 मार्च को दिल्ली में एक सप्ताह की तालाबंदी की घोषणा की, जो कि 31 मार्च तक थी। इससे आगंतुकों की घर वापसी की संभावना कम हो गई।” मरकज ने बयान में पूरे प्रकरण का सिलसिलेवार ब्यौरा दिया है, और कहा है कि संस्था देश में कोरोना वायरस महामारी के बीच जारी दिशा-निर्देशों के अनुपालन में अधिकारियों का पूरा सहयोग किया। मरकज ने साथ ही मीडिया पर आरोप लगाया कि संक्रमित लोगों और कथित तौर पर धार्मिक सभा में शामिल होने वालों की मौत के जे आंकड़े पेश किए गए, वे आधारहीन थे।


 


सड़क दुर्घटना में 3 की मौत, 1 घायल

हैदराबाद। तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के करमनघाट क्षेत्र में रविवार तड़के एक कार दुर्घटना में तीन युवकों की मौत हो गई और एक व्यक्ति घायल हो गया। पुलिस ने यह जानकारी दी। संदिग्ध रूप से नशे में धुत ये युवक 20-25 आयुवर्ग के थे। इनकी कार एक पेड़ से टकराने के बाद एक दीवार से टकरा गई। मृतकों में कार चालक भी है।


ये युवक शहर के निकट गुरमगुडा से पार्टी करके घर लौट रहे थे। घायल यात्री को एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, वहीं शवों को पोस्टमार्टम के लिए उस्मानिया अस्पताल भेज दिया गया था। एक मृतक इंजीनियर था, वहीं शेष दो मृतक एक प्रमुख कंपनी में मार्केटिंग अधिकारी थे। शहर में एक अन्य मामले में रविवार तड़के ही पॉश बंजारा हिल्स के पास एक कार ने सड़क किनारे लगी एक रेहड़ी में टक्कर मार दी। हालांकि उसमें कोई हताहत नहीं हुआ। पुलिस ने प्रत्यक्षदर्शियों के हवाले से बताया कि दुर्घटना के बाद कार चालक और अन्य सवार मौके से भाग गए। पुलिस कार की पंजीकरण संख्या से उनका पता लगाने की कोशिश कर रही है।


जम्मू-कश्मीर के लिए नीति बनाएगी सरकार

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को घोषणा की कि सरकार जम्मू और कश्मीर के लिए अधिवास (डोमिसाइल) नीति बनाएगी। पिछले साल जब से राज्य से विशेष दर्जा छिना है, तभी से इस बारे में मांग की जा रही है। शाह ने अल्ताफ बुखारी के नेतृत्च में हाल ही में गठित हुई ‘अपनी पार्टी’ के 24 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल को नई दिल्ली में इस बारे में आश्वस्त किया।


अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया कि जम्मू-कश्मीर के लिए देश के अन्य राज्यों से बेहतर डोमिसाइल नीति बनाई जाएगी। साथ ही व्यापक आर्थिक विकास नीति का मसौदा भी जल्द तैयार किया जाएगा। शाह ने कहा, सरकार केन्द्रीय कानूनों को जम्मू-कश्मीर में लागू करन में कोई भेदभाव नहीं करेगी। सूत्र ने बताया कि शाह ने प्रतिनिधिमंडल द्वारा उठाए गए करीब 40 मामलों पर चर्चा की। साथ ही उन्हें आश्वस्त किया कि सरकार का इस क्षेत्र में जनसांख्यिकी को बदलने का कोई इरादा नहीं है। शाह ने कहा, “ऐसी बातों का कोई आधार नहीं है।” शाह ने शीघ्र औद्योगिक विकास के लिए एक औद्योगिक नीति बनाने की बात भी कही। इसके लिए एक लैंड बैंक भी बनाया जा चुका है। उन्होंने कहा, “पिछले 70 सालों में जम्मू-कश्मीर ने 13,000 करोड़ रुपए का निवेश प्राप्त किया है। इससे क्षेत्र में बेरोजगारी की समस्या का समाधान होगा।” बंदियों को निरोधात्मक हिरासत से मुक्त करने, इंटरनेट की बहाली, कर्फ्यू में ढील देने जैसी बातों का उल्लेख करते हुए शाह ने कहा, “यहां तक कि राजनीतिक कैदियों को भी सरकार के इस मुख्य उद्देश्य के पूरा होते ही आने वाले समय में मुक्त कर दिया जाएगा कि एक भी व्यक्ति को नहीं मरना चाहिए, चाहे वह एक आम कश्मीरी हो या सुरक्षाकर्मी।” शाह ने कहा कि वो उप राज्यपाल को कहेंगे कि वो एक नोडल अफसर को तैनात करें जो हफ्ते में दो बार लोगों से मिले। उन्होंने प्रतिनिधिमंडल से कहा कि सरकार उनके फीडबैक और सलाहों का स्वागत करती है। बैठक में केन्द्रीय गृह सचिव अजय कुमार भल्ला और अन्य अधिकारी शामिल रहे। मीटिंग के बाद अल्ताफ बुखारी ने कहा, “हमने अपनी समस्याओं और आशंकाओं को साझा किया।


स्थानीय चुनाव के लिए मतदान जारी

हैदराबाद। तेलंगाना में बुधवार को कड़े सुरक्षा बंदोबस्तों के बीच निकाय चुनाव जारी हैं। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। प्रदेशभर की 120 नगर पंचायतों और नौ नगर निगमों में सुबह सात बजे मतदान शुरू हो गए, जो शाम पांच बजे तक जारी रहेंगे। इस दौरान 3,052 वार्डो में अधिसूचना जारी कर दी गई और 81 वार्डो में निर्विरोध पार्षद चुने जाने पर वहां चुनाव नहीं होंगे।


नगर निगमों में कुल 1,746 उम्मीदवार वहीं नजर पंचायतों में 11,099 उम्मीदवार अपना भाग्य आजमा रहे हैं। राज्य के चुनाव आयुक्त वी. नेगी रेड्डी नेक हा कि नौ नगर निगमों में 1,438 मतदान केंद्र और 120 नगर पंचायतों में 6,325 मतदान केंद्र खोले गए हैं, जहां पर लगभग 45,000 मतदान कर्मी कार्यरत हैं। स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान के लिए सरकार ने 50,000 पुलिसकर्मियों को तैनात किया है। सरकार ने बुधवार को जिन क्षेत्रों में चुनाव हो रहे हैं, वहां अवकाश घोषित कर दिया है। राज्य चुनाव आयोग (एसईसी) अधिकारी 2,406 मतदान केंद्रों पर वेब कास्टिंग के माध्यम से निगरानी रख रहे हैं, वहीं 2,072 मतदान केंद्रों पर वीडियोग्राफी हो रही है। फर्जी मतदान रोकने के लिए एसईसी देश में पहली बार फेस रिकग्निशन एप का उपयोग कर रहा है। इसके लिए मेडकल-मलकाजगिरी जिला में कोम्पल्ली नगर पंचायत के 10 मतदान केंद्रों को चुना गया है। राज्य में पिछले साल बनाई गईं 73 नगर पंचायतों में से 68 नगर पंचायतों पर पहली बार चुनाव हो रहा है। सभी नगर निकायों में महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण है। ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन (जीएचएमसी) और 10 अन्य शहरी निकायों का कार्यकाल पूरा नहीं होने के कारण वहां चुनाव नहीं हो रहे हैं। करीमनगर नगर निगम में 24 जनवरी को चुनाव होंगे। प्रदेश में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने सभी नगरीय वार्डो में अपने उम्मीदवार उतारे हैं। कुछ स्थानों पर उसे टक्कर मिल रही है। मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भी ज्यादातर वार्डो पर चुनाव लड़ रहे हैं। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने 276 वार्डो पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं।


27 राज्यों में संक्रमित 1347, 32 की मौत

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगो की संख्या बढ़ती जा रही है दिन प्रति दिन लोग इससे संक्रमित हो रहे है पुरे देश में हाहा कार मचा हुआ है, देश के 27 राज्यों में फैले एक जानलेवा वायरस की वजह से अब तक 1347 लोग संक्रमित हो चुके हैं। वहीं, 32 लोगों की मौत हो चुकी है।


हालांकि 138 लोगों ने अब तक इस वायरस से जंग जीती है और उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है, दो राज्यों केरल और महाराष्ट्र में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 200 के पार पहुंच गई है। सबसे ज्यादा 8 मौत महाराष्ट्र में हुई। इसके बाद गुजरात में छह, कर्नाटक में तीन, मध्य प्रदेश में तीन, राजधानी दिल्ली में दो, पश्चिम बंगाल में दो, केरल, तेलंगाना, तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, बिहार और हिमाचल प्रदेश में एक-एक मौत हुई है। वहीं, ठीक हुए मरीजों की संख्या की बात करें तो महाराष्ट्र में 25, केरल में 16, उत्तर प्रदेश में 11, हरियाणा में 17, कर्नाटक में 5, दिल्ली में 6, तमिलनाडु में 4, लद्दाख में तीन, राजस्थान में तीन, हिमाचल प्रदेश में दो, उत्तराखंड में दो, तेलंगाना, गुजरात, जम्मू-कश्मीर, पंजाब और आंध्र प्रदेश में एक-एक मरीज ठीक हुआ है।


सीमा सील करने से प्रवासियों को दिक्कत

भानु प्रताप उपाध्याय


शामली/कैराना। कोरोना संक्रमण महामारी के चलते पूरे देश को लाॅक डाउन किया गया है। लाॅक डाउन के बाद अन्य प्रदेशों में काम करने वाले प्रवासी मजदूरों का आना जारी था। गृह मंत्रालय की एडवाइजरी के बाद सभी राज्यों की सीमाओं को सील कर दिया हैं। प्रवासियों के आने पर पुलिस प्रशासन ने प्रतिबंध लगा दिया हैं। वहीं सीमा सील होने से प्रवासी मजदूर परेशान नजर आऐ । कोरोना संक्रमण महामारी रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च से पूरे देश में 21 दिन के लिए लाॅक डाउन कर दिया था। वही लाॅक डाउन के बाद अन्य प्रदेशों में फैक्ट्री बंद हो गई थी। जिसके बाद वहां पर काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर सड़क पर आ खड़े हुए। जिनका यूपी हरियाणा बॉर्डर से 3 दिन से लगातार आना जारी था। वही प्रवासी मजदूरों के आवागमन के कारण कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका को देखते हुए लाॅक डाउन के छठे दिन गृह मंत्रालय के निर्देश पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी उत्तर प्रदेश के सभी जनपदों की सीमाओं को सील करने के आदेश दे दिए थे। सोमवार को कैराना स्थित यूपी हरियाणा बॉर्डर को पुलिस प्रशासन ने पूरी तरह सील कर दिया हैं। अन्य प्रदेशों से आने वाले प्रवासी मजदूरों को पुलिस प्रशासन ने आने पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया हैं। सीओ प्रदीप सिंह ने बताया कि यूपी हरियाणा बॉर्डर को सील कर दिया गया है। जिस प्रदेश में प्रवासी मजदूर हैं वें वहीं रहें राज्य सरकार द्वारा उनके खाने पीने व रहने की व्यवस्था की जा रही हैं। वही सीमा सील होने के बाद यमुना ब्रिज पर खड़े कुछ प्रवासी परेशान नजर आएं। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा सैकड़ों किलोमीटर का सफर पैदल तय किया गया हैं, लेकिन अब पुलिस उनको आगे जाने नहीं दे रही हैं। उनके लिए खाने-पीने व रहने की भी कोई व्यवस्था नहीं की गई हैं।


चीन में लॉक डाउन खत्म, मनाया जश्न

चीन(वुहान)। लॉकडाउन खत्म होते ही चीनियों ने दावत शुरू कर दी, जीत के जश्न में खरगोश, बत्तख, कुत्ते,बिल्ली समेत कई जीवों की फिर जान पर बन आई ! लॉक डाउन खत्म होते ही चीनी लोगों की आदते फिर पहले जैसे नज़र आ रही है! कोरोना संक्रमण फैलते ही चीनियों ने सभी प्रकार के मांस से किनारा कर लिया था! लेकिन अब वे फिर से पुराना स्वाद चख रहे है,इस जीत पर चीन में इन दिनों जश्न मनाया जा रहा है जिसमें उन बेजुबान जानवरों के मांस का दोबारा सेवन शुरू कर दिया गया है ! जिनके चलते उस पर वायरस के प्रसार के आरोप लगे हैं।
एक तरफ़ पूरी दुनिया कोरोना वायरस की वजह से वैश्विक महामारी के कहर से जूझ रही है तो दूसरी तरफ़ चीन में इस महामारी पर जीत का जश्‍न खरगोश और बत्‍तख का मांस खाकर मनाया गया। यही नहीं एक बार फिर से चीन में चमगादड़ों की बिक्री धड़ल्‍ले से शुरू हो गई है। यह वही चीन है जिसके वुहान शहर से महामारी दुनियाभर में फैल गई। माना जाता है कि पैंगोलिन से चमगादड़ के रास्‍ते वायरस इंसान के शरीर में प्रवेश कर गया। चीन में महामारी पर ‘जीत’ का जश्‍न मनाया गया। इस दौरान कुत्‍ते, बिल्‍ली, खरगोश और बत्‍तख के खून से घरों की छतें लाल हो गईं। हर तरफ मरे हुए जानवरों के अवशेष नजर आए। इस जश्‍न के लिए चीन में बेहद गंदे मीट मार्केट को फिर से खोल दिया गया। तीन महीने पहले वुहान में इसी तरह के एक मीट मार्केट से वायरस इंसानों में फैल गया था। चीन की इस गलती का खामियाजा आज पूरी दुनिया के लोग भुगत रहे हैं। चीन में वुहान के गुइलिन क्षेत्र के भीतर पहले सुरक्षा गार्ड तैनात नहीं रहते थे। लेकिन अब यहां की तस्वीरें लेने से रोकने के लिए सुरक्षाकर्मी चौबीसों घंटे तैनात रहने लगे हैं। यहां इस बात का प्रचार किया जा रहा है कि कोरोना वायरस अब दूसरे देशों की समस्या है। चीनियों को इससे चिंतित होने की जरूरत नहीं।
डेली मेल की खबर के मुताबिक, दक्षिण-पश्चिम चीन में गुइलिन इलाके के भीतर हजारों लोग दोबारा मीट मार्केट में पहुंचे और वहां खुले में बिक रहे मांस और जिंदा जानवरों को खरीदा। चीन में लॉकडाउन हटने के बाद यहां की मंडी में कई प्रजातियों के पशु-पक्षी रखे देखे गए। सरकार भी लोगों को रोजमर्रा की तरह बाजार जाकर सामान्य जीवन जीने को प्रोत्साहित कर रही है ताकि अर्थव्यवस्था रफ्तार पकड़ सके।


दिल्ली में बड़े मामले 21,860 क्वॉरेंटाइन

नई दिल्ली। कोरोना वायरस (COVID-19)को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन को तोड़ना दिल्ली के लोगों पर भारी पड़ सकता है। रविवार को कोरोना के मामलों में अचानक आई वृद्धि से संकट गहरा गया है। बताया जा रहा है कि पिछले सप्ताह निजामुद्दीन तबलीगी मरकज में शामिल कुछ लोग कोरोना से पीड़ित पाए गए हैं।


क्वारंटाइन हैं 21,860 लोग
स्वास्थ्य विभाग और विशेषज्ञ अभी दिल्ली में समुदाय में संक्रमण फैलने से इन्कार कर रहे हैं। डॉक्टर कहते हैं कि रविवार को जिन लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, उनका सैंपल दो-तीन दिन पहले भेजा गया होगा। दिल्ली में अभी भी 21,860 लोगों को क्वांरटाइन में रखा गया है। इसमें से विदेशों से आए 4401 यात्री अपने घरों में क्वारंटाइन हैं और 1142 लोग सरकारी क्वारंटाइन केंद्र में हैं। जबकि 16,317 लोग विदेशों से लौटे लोगों व पीडि़त मरीजों के संपर्क में आए हैं। इन्हें भी घर में ही क्वारंटाइन किया गया है।


कोरोना वायरस (COVID-19)को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन को तोड़ना दिल्ली के लोगों पर भारी पड़ सकता है। रविवार को कोरोना के मामलों में अचानक आई वृद्धि से संकट गहरा गया है। बताया जा रहा है कि पिछले सप्ताह निजामुद्दीन तबलीगी मरकज में शामिल कुछ लोग कोरोना से पीड़ित पाए गए हैं।


लखनऊ में मिले विदेशी, किया आइसोलेट

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से बड़ी खबर आ रही है। यहां लॉक डाउन के बीच कैसरबाग इलाके में स्थित एक मरकज़ी मस्जिद (Markazi Mosque) में पुलिस कमिश्नर, कमिश्नर और डीएम पहुंचे हैं। पता चला है कि इस मरकजी मस्जिद में पिछले 13 मार्च से कई विदेशी नागरिक रुके हुए हैं। ये किर्गिस्तान और कजाकिस्तान के नागरिक बताए जा रहे हैं। पता चला कि ये विदेशी नागरिक एक धार्मिक जलसे में भाग लेने आए थे खुफिया और एलआईयू की सूचना के बाद पुलिस प्रशासन की टीमें मस्जिद पहुंच गई हैं।
जानकारी के अनुसार सभी विदेशी नागरिकों की मेडिकल जांच कराई जा रही है। इन्हें आइसोलेशन में रखा जा रहा है। यही नहीं मड़ियांव और काकोरी इलाके की मस्जिदों में भी कई विदेशी नागरिकों के रुके होने की खबर है। मंडियांव में 17 बांग्लादेशी नागरिकों के रुके होने की सूचना है। आपको बता दें कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में विदेशी नागरिकों के शामिल होने का मामला सामने आने के बाद विभिन्न राज्यों की पुलिस सतर्क हो गई है। बताया जा रहा है कि निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात में शामिल होने आए ये लोग लॉकडाउन के ऐलान के बाद अलग-अलग राज्यों की ओर चले गए हैं।


मरकज से नहीं लौटे 20 लोग


उधर, पुलिस प्रशासन दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज के आयोजन में शामिल हुए लोगों की तलाश कर रहा है। सूचना मिली थी कि तब्लीगी जमात में लखनऊ के 20 लोग शामिल हुए थे। पुलिस सूत्रों के अनुसार पता चला है कि ये 20 लोग अभी तक लखनऊ नहीं लौटे हैं, ये अभी नई दिल्ली में ही हैं।
वहीं प्रयागराज मंडल से भी 11 लोगों शामिल होने की सूचना थी। इनमें 8 प्रयागराज और 3 लोग प्रतापगढ़ से शामिल हुए थे। आईजी जोन प्रयागराज केपी सिंह ने एलआईयू जांच में पाया है कि सभी लोग जमात के बाद से दिल्ली में ही ठहरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि जमात में शामिल लोगों के यहां न आने से कोरोना का फिलहाल कोई खतरा नहीं है। बता दें रिपोर्ट के मुताबिक यूपी के करीब 157 लोग पुलिस ने चिन्हित किए हैं, जो इस जमात में शामिल हुए थे।


20 राज्यों में संक्रमण हुआ प्रभावी

नई दिल्ली। कोरोनावायरस संक्रमण के मंगलवार को 37 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से सबसे ज्यादा 19 संक्रमित मध्यप्रदेश में मिले हैं। इसके बाद महाराष्ट्र और उत्तरप्रदेश में 5-5, राजस्थान में 4, गुजरात में 3 और बिहार में 1 पॉजिटिव मिला। इसके साथ ही देश में कुल संक्रमितों की संख्या 1 हजार 384 हो गई है। इससे पहले सोमवार को एक दिन में सबसे ज्यादा 208 मामले सामने आए थे। इनमें से महाराष्ट्र में 35 और केरल में 32 मरीज मिले। दिल्ली में 25, उत्तरप्रदेश में 24, तमिलनाडु में 17-17, जम्मू-कश्मीर में 11, राजस्थान में 10, मध्यप्रदेश में 8, कर्नाटक में 8, गुजरात में 7, चंडीगढ़ में 5, पंजाब में 3, आंध्रप्रदेश में 2, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, हरियाणा और अंडमान-निकोबार में 1-1 रिपोर्ट पॉजिटिव आई। ये आंकड़े covid19india.org वेबसाइट के अनुसार हैं। सरकार के आंकड़ों में अभी संक्रमितों की संख्या 1251 है। इनमें से 101 ठीक हो गए हैं।


कल सबसे ज्यादा मौत, सबसे ज्यादा लोग ठीक भी हुए


सोमवार को सबसे ज्यादा मरीज बढ़े तो सबसे ज्यादा ठीक भी हुए। सबसे ज्यादा मौत भी हुईं। देशभर में कल 35 लोगों की अस्पताल से छुट्‌टी हुई। इससे पहले 27 मार्च को 25 लोग ठीक हुए थे। अब तक कुल 137 मरीजों की इलाज के बाद रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। कल 16 लोगों की मौत हुई। इससे पहले 26 मार्च और 28 मार्च को 5-5 कोरोना संक्रमितों ने दम तोड़ा था।


इंदौर में सामने आए 17 नए संक्रमित

इंदौर। कोरोनावायरस इंदौर में घातक होता जा रहा है। मंगलवार को भोपाल से आई रिपोर्ट में 17 नए केस सामने आए हैं। एमजीएम मेडिकल कॉलेज की वायरोलॉजी लैब में कोरोना की जांच के लिए बड़ी संख्या में सैंपल पहुंचने के बाद जांच के लिए रविवार को 40 सैंपल भोपाल एम्स भेजे गए, जबकि यहां भी 70 सैंपल की जांच की गई। सीएमएचओ के अनुसार, इंदौर से भेजे गए सैंपल में 17 नए केस सामने आए। इनमें इंदौर, उज्जैन समेत मालवा-निमाड़ के अन्य जिलों के मरीज शामिल हो सकते हैं। यदि ऐसा होता है तो इंदाैर में कोरोना पॉजिटिव का आंकड़ा 49 (+5 उज्जैन) पहुंच जाएगा। वहीं, प्रदेश में संक्रमितों की संख्या 64 हो गई है। वहीं, सोमवार देर रात 49 साल की एक महिला की मौत के साथ ही प्रदेश में कोरोना से मौत का आंकड़ा 5 हो गया। सोमवार को इस संक्रमण ने दो लोगों की जान ले ली। चंदन नगर निवासी 49 वर्षीय महिला ने देर रात दम तोड़ दिया। इससे पहले दिन में एमआर-9 की राजकुमार कॉलोनी के 41 साल के व्यक्ति की मौत हुई थी।


दोनों ही एमआर टीबी अस्पताल में भर्ती थे। शहर में अब तक तीन और उज्जैन में संक्रमण से मरने वालों की संख्या दाे हाे गई है। इसी बीच, देर रात अभिनेता सलमान खान के 38 वर्षीय भतीजे अब्दुल्ला खान उर्फ अबा की मुंबई में मौत हो गई। अबा इंदौर के खान कंपाउंड में रहते थे। कोरोना की आशंका में उनका सैंपल जांच के लिए भेजा था, अभी रिपोर्ट नहीं आई है।


सोमवार को 8 पॉजिटिव आए थे


सोमवार को इंदौर और उज्जैन में कोरोना के 8 नए मामले सामने आए थे। इनमें उज्जैन के एक 37 साल के युवक की 3 दिन पहले ही मौत हो गई थी। मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी (सीएचएमओ) डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि इंदौर में एक महिला, एक वृद्ध और एक युवक की मौत हो गई, जबकि उज्जैन में मृतकाें में एक वृद्धा और एक युवक शामिल है। इंदौर में अभी 27, उज्जैन 5, जबलपुर में 8, भोपाल में 3, ग्वालियर और शिवपुरी में 2-2 संक्रमित हैं।
8 पॉजिटिव में 5 मरीजों की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं
एमजीएम मेडिकल कॉलेज से सोमवार को जारी बुलेटिन में बताया गया कि पॉजिटिव पाए गए 8 मरीजों में से 3 की कॉन्टैक्ट हिस्ट्री है, जबकि 5 मरीजों की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है। इंदौर में जो 7 नए मरीज सामने आए हैं, उनमें 1 अहिल्या पलटन, 1 आजाद नगर, 1 रवि नगर, एक नॉर्थ हाथीपाला और तीन एमआर-9 स्थित साईंराम कॉलोनी के रहने वाले है। वहीं, उज्जैन के माधवनगर क्षेत्र में रहने वाले एक मरीज में कोरोना की पुष्टि हुई। इस युवक की 3 दिन पहले मौत हो गई। बताया गया है कि युवक बीमार हाेने से 5 दिन पहले नीमच गया था। यहां राजस्थान के लोगों के साथ पार्टी में संपर्क में आया। वहां से लौटते ही सर्दी, खांसी, बुखार हो गया। उज्जैन में अब तक 2 लोगों की मौत हो चुकी।
इंदौर सबसे संक्रमित शहरों की सूची में 8वें नंबर पर
कोरोना संक्रमण से देश में 27 राज्य प्रभावित हैं। इसमें मध्य प्रदेश दसवें नंबर पर है। शहरों की बात करें तो 24 मार्च तक कोरोना मुक्त रहा इंदौर बीते पांच दिनों में देश के सबसे संक्रमित शहरों की सूची में आठवें नंबर पर आ गया है। केरल में देश का पहला मरीज 30 जनवरी को सामने आया था। महाराष्ट्र और दूसरी जगहों पर मार्च के पहले और दूसरे हफ्ते में मरीजों का आना शुरू हुआ। इंदौर में मरीज बढ़ने की रफ्तार जो रविवार तक 380% थी, वह अब 540% हो गई है।


निजामुद्दीन मामले ने बढ़ाया संकट

नई दिल्ली। देश में आज लॉकडाउन का सातवां दिन है। अब तक देश भर में कोरोना वायरस के 1251 मामले सामने आ चुके हैं। जिसमें से 1117 एक्टिव केस हैं यानी उनका इलाज चल रहा है। वहीं तेलंगाना मे 6 लोगों की कोरोना से मौत हो गई।


गौतम बुद्ध नगर के नवनियुक्त जिलाधिकारी सुहास एल वाई ने मंगलवार सुबह 5 बजे लखनऊ से यहां पहुंचकर अपना कार्यभार संभाल लिया। जिला सूचना अधिकारी राकेश चौहान ने बताया कि कार्यभार संभालने के बाद सुबह 8 बजे उन्होंने जिले के सभी प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बैठक की।


आंध्र प्रदेश में सोमवार की रात 17 और लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई जिसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 40 हो गई है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग ने अपने ताजा बुलेटिन में यह जानकारी दी।


बिहार में कल तक कोरोना वायरस के 1051 संदिग्ध नमूनों की जांच की गयी थी जिसमें से अब तक 16 पाज़िटिव पाए गए हैं। कतर से लौटे मुंगेर निवासी एक व्यक्ति की गत 21 मार्च को पटना एम्स में मौत हो गयी थी।


बिहार में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण के एक और मामले की पुष्टि होने के बाद प्रदेश में संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ कर 16 हो गयी है। राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इन्स्टीट्यूट (RMRI) के निदेशक डा प्रदीप दास ने मंगलवार को बताया कि दुबई से लौटा गोपालगंज निवासी 35 वर्षीय एक व्यक्ति कोरोना वायरस पॉजिटिव पाया गया है।


आंध्र प्रदेश सरकार ने पुष्टि की है कि आंध्र प्रदेश के कम से कम 369 लोग निजामुद्दीन कार्यक्रम में शामिल हुए थे।तमिलनाडु में कोविड -19 के सात नए मामले सामने आए हैं। इसके बाद राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 74 हो गई है।


मरकज इमारत, निज़ामुद्दीन के लोगों को अस्पतालों और क्वारंटीन सेंटर्स में शिफ्ट किया जा रहा है। कम से कम 34 ट्रिप्स में लगभग 1,034 लोगों को अब तक स्थानांतरित कर दिया गया है।


महाराष्ट्र में कोविड-19 के पांच नए मामले, कुल संख्या बढ़कर 225 मुम्बई, 31 मार्च (भाषा) महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के पांच नए मामले सामने आए हैं और इसी के साथ राज्य में मंगलवार को संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ कर 225 हो गई। स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि इन नए मामलों में से दो मामले पुणे के, दो बुल्ढाना के और एक मामला मुम्बई का है।


इंदौर में 17 और टेस्ट पॉजिटिव पाये गये हैं. अकेले इंदौर में पॉजिटिव मामलों की संख्या 44 हो गई है। जिले में सोमवार से तीन दिनों तक पूरी तालाबंदी है।


नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) प्रकोप जारी है। मंगलवार को लॉकडाउन का 7वां दिन है। वहीं स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक अब तक देश भर में संक्रमितों की संख्या 1295 हो गई है। इनमें 1162 एक्टिव केस हैं, जबकि 35 लोगों की जान जा चुकी है। जबकि, 102 लोग डिस्चार्ज हो गए हैं।
देश मे कोरोना के सबसे ज्यादा मामले महाराष्ट्र (Maharashtra) में पाये गये हैं। सोमवार को राज्य में 216 लोग संक्रमित पाए गए और यहां अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं 39 लोग रिकवर होकर घर जा चुके है। राज्य में सोमवार को दो लोगों की मौत हुई जिसमें से एक पुणे और दूसरे की मुंबई का मामला शामिल है।
स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि भारत में संक्रमित मरीजों की संख्या 100 से 1000 तक पहुंचने में 12 दिन लगे, जबकि इस संकट से जूझ रहे विकसित देशों में इस अवधि में मरीजों की संख्या 3,500 से 8,000 थी।


 


सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञान

सावधान रहें, सतर्कता बरतें।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


अप्रैल 01, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-233 (साल-01)
2. बुधवार, अप्रैल 01, 2020
3. शक-1942,चैैत्र-शुक्ल पक्ष, तिथि-अष्टमी, 2077


4.सूर्योदय प्रातः 06:20,सूर्यास्त 06:40।
5. न्‍यूनतम तापमान 14+ डी.सै.,अधिकतम-27+ डी.सै., बरसात की संभावना बनी रहेगी।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...