शनिवार, 1 फ़रवरी 2020

सावधानः कौवों-कुत्तों का मास रहे परोस

रामेश्वर। यदि आप सड़क किनारे ठेलों पर सस्ता चिकन खाते हैं तो सावधान हो जाएं। क्योंकि कई शहरों में चिकन के नाम पर कौवे और कुत्तों का मांस बिक रहा है। ताजा मामला तमिलनाडु के रामेश्वरम से सामने आया है, यहां सड़क किनारे एक ठेले पर जब खाद्य विभाग ने छापा मारा तो अफसर हैरान रह गए। ठेले पर सस्ते में जो चिकन बिक रहा था वह असल में कौवे का मांस था। कौवे का मांस चिकन के नाम पर बेचने के आरोप में पुलिस ने यहां दो लोगों को गिरफ्तार किया और उनके पास से करीब 150 मरे हुए कौवे बरामद हुए हैं।


पुलिस के मुताबिक, कौवे के नाम पर चिकन बेचने का खुलासा रामेश्वरम के मंदिर मे आए श्रद्धालुओं के शक पर हुआ। दरअसल, श्रद्धालु यहां कौवों को रोज दाना डालते हैं, लेकिन बीते कुछ दिनों से उन्हें कई कौवे मरे हुए मिल रहे थे।


श्रद्धालुओं ने कौवों के मरने की शिकायत पुलिस को की। जब पुलिस ने तहकीकात की तो उन्हें पता लगा कि कुछ लोग जहरीले चावल देकर कौवों का शिकार कर रहे हैं। जब पुलिस ने कौवों का मांस बेच रहे लोगों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि हम कौवों का शिकार करके छोटे दुकानदारों को बेच रहे थे। दुकानदार कौवों के मांस को चिकन लॉलीपॉप और चिकन बिरयानी कहकर बेच रहे थे जिससे उन्हें अच्छी कमाई हो रही थी।


मालूम हो कि यह पहला मौका नहीं है जब चिकन और मटन के नाम पर कुत्ते-बिल्ली और कौवों का मांस बेचा जा रहा था। इसके पहले मुंबई, कोलकाता और चेन्नई में 2018 में खाद्य विभाग ने छापे मारकर कुत्ते-बिल्ली का मांस बेचने वालों को गिरफ्तार किया था।


बजटः क्या महंगा, क्या सस्ता ?

बजट 2020 क्या महंगा, क्या सस्ता


प्रयागराज। 1. पंखे महंगे, कस्टम ड्यूटी 10 फीसद से बढ़ाकर 20 फीसद हुई।
2. स्टेशनरी होगी महंगी, कस्टम ड्यूटी 10 फीसद से बढ़ाकर 20 फीसद की गई। 
3. मोबाइल फोन होंगे महंगे
4. विदेशी फर्नीचर पर कस्टम ड्यूटी बढ़कर 25 फीसद हुई। 
5. घरेलू उपकरणों पर एक्साइज ड्यूटी बढ़कर हुई 20 फीसदी हुई।
6. सिगरेट और तंबाकू पर बढ़ी एक्साइज ड्यूटी, होंगे महंगे।
7. ऑटो और ऑटो पार्ट पर बढ़ी कस्टम ड्यूटी, होंगे महंगे।
8. इंपोर्टेड मेडिकल डिवाइस होंगे महंगे।
9. आयातित फुटवेयर और फर्नीचर पर बढ़ेगी कस्टम ड्यूटी।
10. फुटवेयर पर सरकार ने बढ़ाया टैक्स, जूते होंगे महंगे।
11. अफोर्डेबल हाउसिंग स्कीम का दायरा एक साल बढ़ा।
12. विदेशी निवेश को 9 फीसद से बढ़ाकर 15 फीसद किया गया।
13. कॉर्पोरेट बॉंड में विदेशी निवेश की सीमा बढ़ाई गई
14. मंत्रालय ने फर्नीचर पर आयात शुल्क 20 फीसदी से बढ़ाकर 30 फीसदी करने का प्रस्ताव दिया है, जबकि कोटेड पेपर, पेपर बोर्ड और हैंड मेड पेपर पर आयात शुल्क दोगुना बढ़ाकर 20 फीसदी करने पर विचार करने को कहा गया है। 
15. फुटवेयर यानी जूते-चप्पल पर आयात शुल्क बढ़ाने से देश में सस्ते जूते-चप्पल का आयात बढ़ने पर रोक लगेगी। 
क्या होगा महंगा


बाद  पेट्रोल-डीजल, सोना, काजू, ऑटो पार्ट्स, सिंथेटिक रबर, पीवीसी, टाइल्‍स महंगी हो जाएंगी। तंबाकू उत्‍पाद भी इस बजट के बाद महंगे हो सकते हैं। पंखे, स्टेशनरी, मोबाइल फोन, विदेशी फर्नीचर, सिगरेट और तंबाकू, ऑटो और ऑटो पार्ट, इंपोर्टेड मेडिकल डिवाइस, फुटवेयर इत्यादि महंगे होंगे।क्या होगा सस्ता
बजट के बाद होम लोन लेना भी सस्‍ता हो सकता है। बजट के बाद इलेक्ट्रिक कारें सस्‍ती हो सकती है।


रिपोर्ट- बृजेश केसरवानी


पतित-पावन 'उपन्यास-4'

पतित-पावन      'उपन्यास' 
गतांक से...
माधुरी की वाणी से निकले शब्द स्वयं माधुरी को भी पीड़ा पहुंचा रहे थे, चुभ रहे थे, गलूरी भी अक्समात दुख से द्रवित हो उठा था। कुछ समय पश्चात सभी ने ठंडी सांस ली। किंतु सभी आश्चर्यचकित और परेशान थे कि कहीं यह शब्द सच न हो जाए। किंतु सत्य तो अटल होता है उसे बदलना संभव नहीं होता है। इसी बात का डर सबको सता रहा था, अनायास ही चिंता की लकीरें माथे पर खिंच गई थी। इसके विपरीत एक बात बहुत महत्वपूर्ण थी। परिवार के सभी लोग शिक्षित थे और इतने अधिक अंधविश्वासी नहीं थे कि अकारण ही किसी भी बात को स्वीकार करें या उस पर विश्वास करें। सभी ने एक दूसरे की आंखों में देखकर एक दूसरे को समझने का प्रयास किया। बिना कुछ कहे ही सब लोग चुपचाप इस बात को भूल जाना चाहते थे और हुआ भी यही, सब लोग इस बात को भूल गए या यूं कहिए इस बात पर किसी ने ध्यान नहीं दिया। पास ही के प्राथमिक विद्यालय में पड़ोस में रहने वाले मास्टर रामपाल भूगोल के अध्यापक थे। विद्यालय केवल आठवीं कक्षा का ही था तथा जया ने वही सातवीं कक्षा उत्तीर्ण कर ली थी। जया होनहार, हूनरबाज बुद्धिमान होने के साथ-साथ कक्षा में सबसे अधिक प्रभाव रखती थी। उसके सहपाठियों मे यदि कोई उसको संतुष्ट करने वाला था वह केवल स्वराज ही था और उन दोनों की पटती भी थी। इसके पीछे सबसे महत्वपूर्ण बात थी कि दोनों ही पढ़ाई के प्रति समर्पित और अनुशासित थे। इसी कारण उन दोनों के बीच अच्छी-खासी मित्रता भी हो गई थी। जया की तीव्रबुद्धि को देखकर आचार्य भी चकित रहते थे। वह एक बार में ही किसी पद,गध, काव्य को कंठस्थ कर लेती थी और उसके भावार्थ को बार-बार अध्ययनरत करती रहती थी। जिसके कारण वह सामान्य तौर पर वास्तविक अवलोकन कर रही थी। प्रत्येक प्रश्न का सर्वप्रथम उत्तर देना उसकी स्वभाविकता हो गई थी। दुर्लभ-दुर्लभ प्रश्नों का कठिन परिश्रम करके हल करना, उसका स्वभाव बन गया था। मिजाज मे आज भी व्यग्रता और लगन दोनों ही बनी रहती थी। यह बच्ची आने वाले समय में शिक्षा पद्धति में विद्वान पद ग्रहण करेगी। क्योंकि उसकी कार्यप्रणाली ही इतनी स्वच्छ और सुंदर थी। जया अभी तक अपनी हवेली में घूम रही थी। प्रातकाल विद्यालय जाना, फिर अध्यापक घर पर पढ़ाते थे, ढेर-सी पढ़ाई करने के कारण उसे बाहरी दुनिया का अनुमान भी नहीं था। किताबों में उलझे रहना, हवेली के चक्कर काटना, यही उसका दिनचर्या बन गया था। हालांकि इसके विपरीत उसको बाहरी सामाजिक ढांचे की किसी प्रकार की कोई जानकारी नहीं थी। अब अंतिम परीक्षा-पत्र हल करने के बाद जया अपने घर आई। किताबे एक और रख दी क्योंकि अब ग्रीष्म काल का अवकाश प्रस्तावित हो गया था। अब 40 दिन तक किताबों से मोह रखना मूर्खता से अधिक और कुछ भी नहीं था।
 वैसे तो कई कुप्रथा समाज में आज भी प्रचलित है। यदा-कदा उनका विरोध होता रहता है। जिसमें से एक प्रथा तलाक़ पर वर्तमान सरकार ने अधिनियम पारित करने के बाद तलाक प्रथा को खत्म करने का कार्य किया है। हालांकि अभी भी इस्लामिक धर्म के मानने वाले इस कानून का विरोध कर रहे हैं। परंतु वह सभी स्त्री के प्रति अत्याचार और पीड़ा को समझने का प्रयास नहीं कर रहे हैं। किसी भी धर्म अथवा मजहब में क्या किसी को पीड़ित करने का कोई अधिकार दिया गया है या किसी के शोषण का कोई अधिकार दिया गया है? नहीं दिया गया है। इस प्रकार का कोई भी उदाहरण किसी भी धर्म में नहीं है। बावजूद इसके भी इस प्रकार की कुप्रथा आज भी समाज में प्रचलित है और विरोध के बाद भी उनका संचालन हो रहा है। इसी प्रकार से उस काल में और भी बहुत सारी ऐसी ही प्रथा थी। परंतु उस समय के अनुसार कम थी। क्योंकि कुप्रथाओं का भी एक दायरा था उसकी सीमा थी। अशिक्षित और सामाजिक ज्ञान न होने के कारण अल्प ज्ञान में लोग इस प्रकार के निर्णय कर लिया करते थे। लेकिन आधुनिकता के 'शहतीर पर खड़े' लोग अब इस प्रकार का निर्णय नहीं करते हैं, चाहे वह किसी भी धर्म या मजहब से जुड़े हो। उस समय लड़कियों को पढ़ाना भी एक अपराध था। यदि कोई बहुत पढ़ा-लिखा चिट्ठी भी पढ़ ले तो यह भी गनीमत थी। 
लेकिन माधुरी ने ऐसी कुप्रथा को गांव के और समाज के विपरीत रखकर जया को पढ़ने के लिए स्वतंत्रता प्रदान कर दी थी। उसने जया को पोस्ट ग्रेजुएट कराने की सोच रखी थी। साथ-साथ चतुरसिंह भी छठी कक्षा में उत्तीर्ण हो गया था। सो जया की बाधाएं भी हटती जा रही थी, किंतु गर्मियों की छुट्टी कैसे बीते 2 दिन मामा के यहां भी रहे। अब मामा के यहां इतनी सुख सुविधाएं देखकर 2 दिन में ही "पेट मुंह में आ गया"। अभी तो बहुत सारा समय बाकी था। उस समय को किस प्रकार व्यतीत किया जाए? इस पर विचार ने की क्षमता है नहीं थी।
 प्रातः काल में उठकर जाने वहीं सामान्य तौर पर पाया। घर में मां चतुर और अघोरी सभी खेत में मां का रोजमर्रा का कार्य था खाना बनाना, खेत में ले जाना। इस प्रकार के कार्यों से जया का मन ऊब गया था। जया ने आज पीले पीले रंग के वस्त्र पहने थे और किसी 'अधखिले फूल की तरह' उसका रंग-रूप उस चोले में खिलखिला उठा था। जया कौर ने अपनी मां से धीरे से कहा- मैं भी खेत में चलूं! माधुरी ने जया को अनसुना कर दिया- क्या करोगी? निवेदन के साथ कहा- मुझे देखने दो, तुम्हारे साथ ही चली जाऊंगी, तुम्हारे साथ ही आ जाऊंगी। माधुरी ने कहा- ठीक है।
 कुछ समय पश्चात दोनों खेत में चले गए। माधुरी ने घूघंट मे ही कहा, क्योंकि घूंघट एक पारंपरिक संस्कार था, जिसकी मान्यता बहुत अधिक थी, उस मान्यता के आधार पर ही माधुरी घर से निकलने के बाद हमेशा घूंघट में रहती थी। उसने बड़े शांत स्वर से कहा- हां यही से हमारे खेत की सीमा शुरू होती है, सामने चौराहा है वहां तक सब हमारे खेत है। जया ने पूर्व मुद्रा में पूछा- मां!ये लड़की कौन है, हमारे खेत में क्या कर रही है? माधुरी कोर ने घूंघट उठाकर दृश्य का अवलोकन करने के पश्चात कहा- यह लड़की हमारे खेतों में ही काम करती है, हमारे एक मजदूर रतिराम की लड़की है। यंही खेलती है यंहीं खाती है यंही रहती है। बहुत सुंदर, बहुत अच्छी लड़की है।
 जया ने मुंह चुराकर कहा- यह पढ़ती नहीं है तभी तो?
 माधुरी कौर ने उत्तर दिया- पहली बात तो यह लोग लड़कियों को पढ़ाते नहीं है और दूसरी बात इनके पास इतना धन भी नहीं है कि लोग अपने बच्चों को अच्छे से पढ़ा सके। जया ने उदारता से पूछा- जब तुम चतुर को पढ़ाती हो। माधुरी मैं तो चाहती हूं लेकिन तेरे ताऊ की तरह खेती करेगा और चतुर कहीं नौकरी करेगा। जया ने अज्ञानता वश पूछा- यह नौकरी क्या होता है? माधुरी ने रूखे पन से ही उत्तर दिया- जब बच्चे बड़े हो जाते हैं या कोई भी व्यक्ति जब बड़ा हो जाता है, तो उसको कोई ना कोई काम तो करना ही होता है। जिससे घर परिवार का संचालन हो,पालन-पोषण रस्में रिवाज, इन सब को पूरा करने के लिए धन की आवश्यकता होती है। धन उपार्जन करने के लिए कुछ ना कुछ काम करना होता है। जिसे हम साधारण भाषा में नौकरी कहते हैं। जया ने हतप्रभ होकर पूछा-शादी क्यों होती है? माधुरी ने कहा- परिवार को आगे बढ़ाने के लिए, वंश के संचालन के लिए, जीवन-यात्रा में प्रत्येक मनुष्य को एक साथी की आवश्यकता होती है। इसी कारण समाज में यह एक तरीका, इस यात्रा को पूर्ण करने के लिए उपयोग किया है। जिसे हम विवाह भी कह सकते हैं। जया ने विनम्रता के साथ निवेदन पूर्ण कहा- कृपया करके उस लड़की से मिल सकती हूं। माधुरी- ठीक है लेकिन संभल कर जाना और कहीं मत जाना। 
जया, कल्पना की ओर बढ़ने लगती है। कल्पना हाथों में एक तितली को पकड़ लेती है। उसके रंगों को निहारती है, उसके पंखों को खोल कर, उसके रंग गिनती है।तभी उसकी नजर उसकी तरफ आ रही जया पर पड़ती है। एक क्षण के लिए कल्पना स्तब्ध हो गई। उसकी नजरें जया पर ठहर गई। उसने तितली को अपने हाथों की कैद से आजाद कर दिया और बेचैनी से अपनी ओर आने वाली जया को एकटक देखने लगी। कुछ तो ऐसा था जो इस दृश्य में आकर्षण पैदा कर रहा था। जया और कल्पना एक दूसरे के प्रति इस प्रकार आकर्षित हो रही थी। जैसे जमीन और आसमान एक दूसरे से मिलने के लिए लालायित रहते हैं। लेकिन फिर भी उनका कोई छोर नहीं होता है।....


कृतः- चंद्रमौलेश्वर शिवांशु 'निर्भय-पुत्र'


एसटीएफ ने पकड़ी अरबों रुपए की हैरोइन

अमृतसर में एसटीएफ को बड़ी सफलता, अरबों रुपए की हैरोइन पकड़ी, अब तक की ये सबसे बड़ी रिकवरी


अमित शर्मा


अमृतसर। पंजाब के अमृतसर से इस समय की सबसे बड़ी खबर आ रही है। स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की टीम ने सफलता हासिल करते हुए सुल्तानविंड एरिया से अरबों रुपए की हैरोइन बरामद की है। ये रिकवरी अमृतसर की पहली सबसे बड़ी रिकवरी है। टीम ने इस मामले में अफ्रीकी नागरिक समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सुल्तानविंड एरिया में एक फैक्ट्री थी, जिसके अंदर ही ये हैरोइन तैयार की जाती थी। एसटीएफ ने गुप्त सूचना के बाद वहां देर रात रेड करके आरोपियों को गिरफ्तार किया और वहां से 150 किलो से ज्यादा हैरोइन बरामद की है। इस हैरोइन का इंटरनेशनल मार्किट में कीमत अरबों रुपए है। मार्किट के अनुसार 1 किलो हैरोइन की कीमत करीब 5 करोड़ रुपए है।


लोनी को जाम मुक्त कराने का जज्बा

लोनी को जल्द ही बनाया जाएगा जाम मुक्त व कराया जाएगा सौंदर्यीकरण - खालिद अंजुम खान


अश्वनी उपाध्याय
गाजियाबाद। दिल्ली-सहरनपुर अतंर्राज्यीय सडक स्थित लोनी तिराहे पर जाम की समस्या को देखते हुए उपजिलाधिकारी खालिद अंजुम खान की अध्यक्षता में गाजियाबाद विकास प्राधिकरण अधिकारियों, क्षेत्राधिकारी पुलिस, तहसीलदार, तीनों थाने के प्रभारी ,नगर पालिका परिषद एवं स्थानीय यातायात निरीक्षक के साथ एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें जाम की स्थिति से निबटने के लिए कार्य योजना बनाई गई। इस दौरान अधिशासी अभियंता गाजियाबाद विकास प्राधिकरण को कड़े निर्देश जारी किए गए। तत्काल लोनी तिराहे से बलराम नगर यू-टर्न तक ढाई मीटर चौड़ा रोड बनाया जाना सुनिश्चित करें तथा यह कार्य शुक्रवार की रात से ही प्रारंभ होना जो जाना चाहिए। यह आदेश लोनी उपजिलाधिकारी ने अपनी ओर से अधिशासी अभियंता को दिए। राज्य मार्ग 709 बी के निर्माण के संबंध में संजय कुमार मिश्रा परियोजना निदेशक राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण से जिलाधिकारी ने इस संबंध में बात की। उन्होंने बताया कि दिल्ली-सहारनपुर मार्ग का निर्माण कार्य प्रस्तावित है। जिसका टेंडर 3.2.2020 को पूरा कर दिया जाएगा। उनके द्वारा यह भी बताया गया कि दिल्ली-सहारनपुर मार्ग पर वाटर लॉगिंग की स्थिति के कारण सड़क निर्माण संभव नहीं है। जिस कारण निर्माण के उपरांत भी यही स्थिति रहती है तो राष्ट्रीय राजमार्ग की सड़क को भी नुकसान पहुंचेगा। इस मामले में अधिशासी-अधिकारी नगर पालिका को कड़े निर्देश जारी कर , पानी की निकासी व सफाई समय-समय पर करने की व्यवस्था के आदेश भी दिए गए। वहीं उप जिलाधिकारी ने लोनी तिराहे पर ऑटो से लगने वाले जाम के निस्तारण की भी योजना बनाई है। जिसमें उन्होंने राशिद अली गेट, हनुमान मंदिर बलराम नगर यू-टर्न के सामने 3 ऑटो स्टैंड बनवाने की भी बात सक्ति से रखी है। उपजिलाधिकारी लोनी ने यह भी आदेश जारी किया कि सोमवार के दिन किसी भी तरह की कोई भी रेडी पटरी सड़क के किनारे नहीं पाई जानी चाहिए, अन्यथा उस पर कार्यवाही की जाएगी। जबकि रोनित से 200 मीटर की दूरी के अंदर किसी भी ऑटो के प्रवेश पर रोक सुनिश्चित होगी।


वायरस को लेकर सक्रिय दिखे एसडीएम

करोना वायरस को लेकर सक्रिय दिखे लोनी उपजिलाधिकारी


अविनाश 
गाजियाबाद। देश में कोरोना वायरस जैसी आपातकालीन स्थिति से निबटने के लिए लोनी प्रशासन ने भी अपनी कमर कस ली है। शुक्रवार सुबह लोनी उपजिलाअधिकारी खालिद अंजुम खान ने नगर पालिका, खाद सुरक्षा, औषधि प्रशासन एवं चिकित्सा विभाग के साथ बचाव तथा उपायों के संबंध में बैठक आयोजित की। जिसमें दिनेश कुमार एवं धर्मेंद्र सिंह खाद्य सुरक्षा अधिकारी को खाद्य पदार्थों की जांच और इनके अस्मिक निरीक्षण के निर्देश दिए गए। वहीं उपजिला अधिकारी खालिद अंजुम खान ने बताया कि इनकी रिपोर्ट प्रतिदिन उपजिलाधिकारी कार्यालय में प्रस्तुत की जाएगी। वहीं लोनी नगर पालिका अधिशासी-अधिकारी को नगरीय क्षेत्र अंतर्गत साफ-सफाई एवं डीडीटी के प्रति दिन छिड़काव कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। कोरोना वायरस से बचाव एवं इसके उपाय के संबंध में जगह-जगह नगर पालिका द्वारा प्रचार व जानकारी के लिए होल्डिंग आदि भी लगवाए जाएंगे। कोरोना वायरस से बचाव के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक राजेश तेवतिया मुख्य स्वास्थ्य सामुदायिक केंद्र लोनी को तत्काल प्राथमिकता पर कंट्रोल रूम बनाने के लिए उपजिलाधिकारी ने आदेश दिए हैं। इस आपात स्थिति से निपटने के लिए योजना के प्रभारी रविंद्र कुमार बीसीपीएम लोनी को बनाया गया है किसी भी विषम परिस्थिति में कंट्रोल रूम में नंबर पर संपर्क किया जा सकता है। वही लोनी उपजिलाधिकारी ने क्षेत्रीय अभिसूचना इकाई एवं समस्त थाना अध्यक्ष को बाहरी राज्य देशों से आने वाले व्यक्तियों पर कड़ी नजर रखने के कड़े निर्देश दे दिए हैं। ऐसी किसी भी सूचना को संज्ञान में आने पर तत्काल प्राथमिकता पर उच्च अधिकारियों को अवगत कराते हुए, कार्यवाही के लिए निर्देशित किया गया है।


स्कूलों की नियुक्ति में मिली अनियमितता

कमिश्नर ने कराई जाॅंच तो स्कूलों की नियुक्ति में अनियमितताओं का खुला पिटारा


आजमगढ़। जनपद के अशासकीय सहायता प्राप्त जूनियर हाई स्कूलों में 20 प्रधानाध्यापकों/प्रधानाध्यापिकाओं के साथ ही 45 कला वर्ग व भाषा विषय के व 20 विज्ञान विषय के सहायक अध्यापकों के चयन को अनुमोदित किये जाने का है मामला


कमिश्नर कनक त्रिपाठी ने अशासकीय सहायता प्राप्त जूनियर हाई स्कूलों में प्रधानाध्यापक, सहायक अध्यापक के पद पर नियम विरुद्ध तरीके से की गयी नियुक्तियों को जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी देवेन्द्र कुमार पाण्डेय द्वारा नियम विरुद्ध तरीके से अनुमोदित किये जाने के सम्बन्ध में प्राप्त शिकायतों के परिप्रक्ष्य में चार सदस्यीय जाॅंच समिति के माध्यम से जाॅंच कराई तो इन नियुक्तियों में भारी अनियमितताओं का खुलासा हुआ। मण्डलायुक्त ने जाॅंच में पाई गयी गंभीर किस्म की अनियमितताओं के कारण जहाॅं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी देवेन्द्र कुमार पाण्डेय को निलम्बित कर उनके विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्यवाही संस्थित करने की संस्तुति की है वहीं इन नियुक्तियों को निरस्त कर सतर्कता जाॅंच कराये जाने की भी सिफरिश शासन को भेज दी है।


टमाटर से होने वाले नुकसान

टमाटर के महंगे होने का अगर आपको भी दुख है, तो इसके इन नुकसानों को जरूर जान लीजिए…इन्हें जानने के बाद आपको टमाटर के महंगे होने का जरा भी दुख नहीं होगा और आप तौबा कर लेंगे इन महंगे टमाटरों से। जानें 5 नुकसान –
1 टमाटर का सेवन आपको एसिडिटी दे सकता है। दरअसल इसमें काफी अधिक मात्रा में अम्ल होता है जिससे इसका सेवन करने पर आपके पेट में अम्लीयता बढ़ती है और यह एसिडिटी का कारण बनती है।
2 टमाटर के साथ-साथ आप इसके बीजों को शरीर में जाने से नहीं रोक सकते, लेकिन इन बीजों के आपके शरीर में जाने से आप पथरी के मरीज हो सकते हैं, क्योंकि ये आसानी से किडनी में पहुंचकर पथरी यानि स्टोन का निर्माण करते हैं।
3 टमाटर में मौजूद टरपीन्स नामक तत्व आपकी शारीरिक दुर्गन्ध का कारण बन सकता है। पाचन के दौरान इसका विघटन, शरीर की दुर्गन्ध पैदा करता है।
4 अगर आपको अक्सर पेट में गैस की समस्या होती है, तो टमाटर का सेवन कम करना ही आपके लिए फायदेमंद होगा, क्योंकि यह पेट में गैस पैदा कर सकता है।
5 आजकल ऑर्गेनिक टमाटरों के बजाए इंजेक्शन या केमिकल का इस्तेमाल कर पकाए गए टमाटर बाजारों में उपलब्ध होते हैं, जो आपके लिए बेचैनी, ब्लडप्रेशर और अन्य सेहत समस्याएं दे सकता है।


डब्ल्यूएचओ ने वैश्विक संकट घोषित किया

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी WHO ने कोरोना वायरस को लेकर वैश्विक संकट घोषित किया है। चीन में अब तक इस वायरस से 170 लोगों की मौत हो चुकी है।
18 देशों में यह वायरस फैल चुका है। WHO के हालिया डेटा के अनुसार दुनिया भर में कोरोना वायरस के 7,800 मामले पाए गए हैं। इस वायरस की शुरुआत चीन के वुहान शहर में एक अवैध वाइल्ड लाइफ मार्केट से हुई थी।
चीन के अलावा दुनिया के अलग-अलग देशों में कोरोना वायरस के 100 और मामले पाए गए हैं। इस वायरस के कारण लोग चीन का दौरा रद्द कर रहे हैं। चीन को लेकर दुनिया भर में नकारात्मक छवि बन रही है। इस वायरस के डर से फेस मास्क की भी मांग बढ़ी है। WHO के महानिदेशक टेड्रोस ऐडहेनॉम गेब्रीयेसोस ने जेनेवा में एक न्यूज़ कॉन्फ़्रेंस में इस वायरस से निपटने में चीन की सक्रियता की तारीफ़ की लेकिन उन्होंने इस वायरस के बाक़ी के देशों में फैलने को लेकर चिंता भी जताई।
उन्होंने कहा, ''वैश्विक संकट केवल चीन को लेकर घोषित नहीं किया गया है। वैश्विक संकट बाक़ी के देशों में कोरोना के मामले पाए जाने के कारण किया गया है। हमारी चिंता यह है कि जिन देशों में यह वायरस फैल रहा है वहां के हेल्थ सिस्टम बहुत ही ख़राब हैं।''
WHO के इस क़दम से सभी देशों के बीच कोरोना वायरस से जुड़ी सूचनाओं के आदान-प्रदान को लेकर सख़्ती बरती जाएगी। हालांकि चीन के लिए यह मुश्किल खड़ा करेगा।
WHO के महानिदेशक टेड्रोस ऐडहेनॉम गेब्रीयेसोस
विशेषज्ञ इस बात से चिंतित हैं कि चीन से बाहर एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में इसके फैलने की आशंका है। अमरीका और इटली में भी कोरोना वायरस का मामला सामने आया है। कारोबारियों का कहना है कि WHO ने चीन आने-जाने पर रोक नहीं लगाई है। हालांकि एयर फ़्रांस, अमरीकन एयरलाइंस और ब्रिटिश एयरवेज़ ने चीन से अपनी उड़ानें बंद कर दी हैं। चीन को इससे बड़ा आर्थिक नुक़सान हो रहा है।
चीन में मल्टिनेशनल कंपनियां भी कोरोना वायरस के कारण बिज़नेस बंद कर रही हैं। अल्फ़ाबेट इंक गूगल और स्वीडन IKEA ने चीन में अपना ऑपरेशन बंद कर दिया है। वुहान में म्यांमार के 60 स्टूडेंट फंसे हुए हैं। इन 60 छात्रों में से एक सी थु तुन ने ऑनलाइन न्यूज़ पोर्टल डेमोक्रेटिक वॉइस ऑफ बर्मा से कहा, ''लगभग दुकानें बंद हैं। हमलोग बाहर जाकर खाने के लिए कुछ ख़रीद भी नहीं सकते हैं। सच कहूं तो मेरे पास एक आलू, नूडल्स के तीन पैकेट और थोड़े चावल बचे हैं।
संयुक्त राष्ट्र ने WHO को 2005 में वैश्विक स्तर पर इस तरह की हेल्थ इमर्जेंसी घोषित करने का अधिकार दिया था। उसके बाद से यह छठवीं बार है जब वैश्विक स्तर पर हेल्थ इमर्जेंसी घोषित की गई है। WHO ने चीन आने-जाने पर रोक नहीं लगाई है। WHO ने कहा कि चीन से लगी सीमा को अगर कोई देश बंद करता है तो वो इसका विरोध करेगा। हालांकि WHO ने रूस का नाम नहीं लिया। रूस ने चीन से लगी अपनी सीमा के कई हिस्सों को बंद कर दिया है और चीन के लोगों का वीज़ा भी रद्द कर दिया है।
WHO के इस क़दम से टूरिज़म इंडस्ट्री प्रभावित होने की बात कही जा रही है। लोग चीन जाने से परहेज करने लगेंगे। जापान ने भी वुहान से अपनी उड़ान बंद कर दी है। चीन ने कहा है कि वो कोरोना वायरस से निपटने में सक्षम है और लगातार काबू पाने की कोशिश कर रहा है।


रिपोर्ट-त्रिलोकी नाथ


हार के बाद भी फेडरर को मिला सम्मान

मेलबर्न। सर्बिया के स्टार नोवाक जोकोविच ने स्विट्जरलैंड के दिग्गज रोजर फेडरर की उम्मीदों पर पानी फेर दिया और गुरुवार को रेकॉर्ड आठवीं बार ऑस्ट्रेलियन ओपन के फाइनल में जगह बनाई। हालांकि जोकोविच ने जीत के बाद भी फेडरर के लिए सम्मान की बात कही। 
इन दोनों के बीच 50वें मुकाबले में सर्बियाई खिलाड़ी ने शुरुआत में थोड़ी ढिलाई बरती, फिर स्विट्जरलैंड के दिग्गज को 7-6 (7/1), 6-4, 6-3 से हराया।
मौजूदा चैंपियन जोकोविच ने 26वीं बार ग्रैंडस्लैम फाइनल में पहुंचने के बाद कहा, सेमीफाइनल में कोर्ट पर उतरने के लिए रोजर का आभार, उनके लिए सम्मान क्योंकि वह वास्तव में चोटिल थे और यहां तक कि अच्छी तरह से मूवमेंट भी नहीं कर पा रहे थे।Ó जोकोविच ने कहा, ‘उन्होंने पहले सेट में अच्छी शुरुआत की और मैं थोड़ा नर्वस था। मेरे लिए पहला सेट जीतना महत्वपूर्ण था। मानसिक रूप से मैं उसके बाद सहज हो गया था।Ó 
मेलबर्न में यह चौथा अवसर है जबकि जोकोविच ने सेमीफाइनल में फेडरर को हराया। इससे पहले 2008, 2011 और 2016 में भी उन्होंने फेडरर को सेमीफाइनल से आगे नहीं बढऩे दिया था। यहां 2018 में खिताब जीतने वाले फेडरर ग्रोइन की चोट के बावजूद कोर्ट पर उतरे थे। वह टेनिस सैंडग्रेन के खिलाफ चर्टर फाइनल में चोटिल हो गए थे। 
फेडरर को मैच से पहले अपने दायें पांव के ऊपरी हिस्से में पट्टी बांधे हुए देखा गया था। उन्होंने अपने करियर में केवल चार बार विरोधी खिलाड़ी को वॉकओवर दिया है।


फांसी टलने से मां के सब्र का बांध टूटा

नई दिल्ली। निर्भया के गुनहगारों की फांसी एक बार फिर टल गई है। दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट ने कुछ दोषियों के पास कानूनी विकल्प बचे होने के आधार पर शुक्रवार को डेथ वॉरंट पर अगले आदेश तक के लिए रोक लगा दी। लगातार दूसरी बार दोषियों की फांसी टलने से निर्भया की मां आशा देवी के सब्र का बांध भी टूट गया। फैसले के बाद वह कोर्ट के बाहर रोते हुए बोलीं कि 7 साल पहले उनकी बेटी के साथ अपराध हुआ और सरकार बार-बार उन्हें मुजरिमों के सामने झुका रही है। उन्होंने कहा कि उनकी लड़ाई जारी रहेगी।


‘वकील का चैलेंज, अनंतकाल तक फांसी टलेगी’
निर्भया की मां ने कहा कि मुजरिमों के वकील ने उन्हें पहले ही चुनौती दी थी कि फांसी अनंतकाल तक टलेगी। उन्होंने कहा, ‘मुजरिमों के वकील ए. पी. सिंह ने मुझे चैलेंज किया था कि फांसी अनंतकाल तक नहीं होगी। 7 साल पहले मेरी बच्ची के साथ क्राइम हुआ था और सरकार बार-बार मुजरिमों के सामने मुझे झुका रही है।’ उन्होंने आगे कहा, ‘मैं सरकार से, कोर्ट से, न्याय व्यवस्था से यही कहना चाहती हूं कि आज इस कानून व्यवस्था की कमी की वजह से एक मुजरिम का वकील मुझे चैलेंज करके गया है कि अनंतकाल तक फांसी नहीं होगी। …जो मुजरिम चाहते थे, वह हो गया, फांसी टल गई।’


गुस्से में बोली मां- क्या आक्रोश शांत करने के लिए दी गई थी फांसी की सजा
आशा देवी ने कहा कि वह लड़ेंगी और दोषियों को फांसी देना ही होगा। उन्होंने कहा, ‘मैं लड़ूंगी… सरकार को उनको फांसी देनी होगी नहीं तो पूरे समाज को सुप्रीम कोर्ट से लेकर लोवर कोर्ट तक को सरेंडर करना होगा कि फांसी की सजा को सिर्फ गुमराह करने के लिए दिया गया था, शांत करने के लिए दिया था।’ फांसी टलने से विचलित निर्भया की मां ने यह भी कहा कि उन्हें कानून पर भरोसा तो है लेकिन जैसा हो रहा है उससे अपराधियों को हौसले बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा ही होना है तो नियम-कानून की किताबों को आग लगा देनी चाहिए।


अनन्या नेपोटिज्म पर रही असफल

मुंबई। अभिनेत्री पूजा बेदी की बेटी अलाया एफ का मानना है कि अनन्या पांडेय नेपोटिज्म पर सही जवाब नहीं दे सकीं। अलाया जवानी जानेमन से बॉलीवुड में कदम रखने जा रही हैं। फिल्म में सैफ अली खान और तब्बू जैसे कलाकार शामिल हैं।


एक चैट शो के दौरान जब उनसे पूछा गया कि वह ऐसी क्या चीज है जो अनन्या सही से नहीं कर सकीं। इस पर नवोदित अभिनेत्री ने कहा, अनन्या पांडेय नेपोटिज्म पर उचित जवाब नहीं दे पाई, जो मैं दे सकती हूं। अपने समकालीन कलाकारों को लेकर अलाया ने कहा, मैं अपने समकालीन कलाकारों का करियर ग्राफ देखती रहती हूं। वहीं कार्तिक आर्यन के बारे में अलाया ने कहा, लव आजकल के ट्रेलर में कार्तिक और सारा के बीच हॉट सीन देख मुझे आर्यन के साथ ऐसे सीन करने में कोई परेशानी नहीं है।
वहीं, उनसे पूछे जाने पर कि अगर वह कार्तिक को अपने बिस्तर पर पाती हैं तो उनकी प्रतिक्रिया क्या होगी? इस पर अलाया ने कहा, मुझे कोई आश्चर्य नहीं होगा, अगर मैं नींद से जागती हूं और कार्तिक आर्यन को अपने बिस्तर पर देखती हूं। वहीं अलाया ने यह भी कहा कि वह रिलेशनशिप को लेकर पूछे जाने वाले सभी सवालों का सामना करने के लिए पहले से तैयार हैं। अलाया चैनल जूम पर आने वाले चैट शो बाइ इन्वाइट ओनली पर आई थीं।


देसी कट्टों से मोहब्बत करने वाले राज्य मंत्री

नई दिल्ली। देशवासियों के लिए ख़ुशी की बात है कि देशी कट्टों से बेइंतहा मोहब्बत करने वाले अनुराग ठाकुर जी, संयोग से देश के वित्त राज्यमंत्री भी हैं, इस बीच कल बजट भी आने वाला है, ऐसे में माना जा रहा है कि देशी कट्टा इंडस्ट्री के लिए राहत पैकेज का एलान हो सकता है।


अनुराग ठाकुर ने इस बात के संकेत दिल्ली चुनाव में प्रचार करते हुए ही दे दिए थे, जब उन्होंने कहा था था कि  ‘देश के गद्दारों को.. गोली मारो सालों को!’ ये उनका प्यार ही है जो चुनावी सभा से छलककर सामने आया था! अनजाने में ही सही उन्होंने बजट के प्रावधानों को लीक कर दिया है, अनुराग ने कहा कि, “देखिए! देशी कट्टों की बात ही अलग होती है, सरदार खान के पास पैसों की कमी नहीं थी फिर भी वो देशी कट्टा ही यूज करता था! मैं भी हमेशा से देशी कट्टे का समर्थक रहा हूँ, लेकिन ये इंडस्ट्री आजकल संकटों से गुजर रही है, कच्चा माल मिलता नहीं ऊपर से योगी सरकार इन पर छापा मारती रहती है!


इनका दर्द ‘CCI’ वालों के दर्द से कुछ कम नहीं है, ये तो अपनी बात सरकार को बता भी नहीं सकते! लेकिन अब ऐसा नहीं होगा, मैंने इन दबे-कुचले लोगों को मुख्यधारा में वापस लाने का बीड़ा उठाया है!


प्रदर्शनकारियों पर फायरिंग करने पर ऑफर

नई दिल्ली। जामिया के प्रदर्शनकारी छात्रों पर फ़ायरिंग करने वाले युवक को बीजेपी ने तुरंत टिकट ऑफ़र कर दिया है। केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने चुनाव आयोग से माँग की है कि लेट फ़ीस के साथ हमारे इस बंदे का नॉमिनेशन स्वीकार किया जाये। ग़ौरतलब है कि दिल्ली में नॉमिनेशन की लास्ट डेट काफ़ी पहले निकल चुकी है।


चुनाव आयोग से मिलकर लौट रहे बीजेपी प्रतिनिधिमंडल के सदस्य अनुराग ठाकुर ने कहा कि “अगर हमें योग्य और प्रतिभाशाली कैंडीडेट देरी से मिले तो एक्सेप्शन के तौर पर उसे डेट निकल जाने के बाद भी नॉमिनेशन करने की परमिशन मिलनी चाहिए।“चूंकि हमारा ये बंदा थोड़ा लेट आया है, इसलिए हमने इलेक्शन कमीशन से माँग की है कि इसका बैक डेट में नॉमिनेशन स्वीकार किया जाये।” – अनुराग ने चुनाव आयोग को सौंपे लैटर की कॉपी दिखाते हुए कहा।


उधर, चुनाव आयोग असमंजस में फँस गया है। आयोग को डर सता रहा है कि अगर इस बंदे को परमिशन दे दी तो कल को और लोग भी ऐसी ही माँग कर सकते हैं क्योंकि देश में ऐसे देशभक्तों की कमी नहीं है जो बम या पिस्तौल चलाकर इलेक्शन का टिकट हासिल करना चाहते हैं।


सिपाही ने तिहरे हत्याकांड को दिया अंजाम

रांची। राजधानी रांची से जुर्म की बड़ी खबर आ रही है। रांची में ट्रिपल मर्डर की वारदात को अंजाम दिया है ।खबर के मुताबिक रांची के बरगाई में स्पेशल ब्रांच के सिपाही ने ट्रिपल मर्डर की वारदात को अंजाम दिया है। खबर के मुताबिक स्पेशल ब्रांच के सिपाही ब्रजेश ने पत्नी, बेटा और बेटी की हत्या की दी है। बताया जाता है कि ट्रिपल मर्डर की वारदात को अंजाम देने के बाद सिपाही ब्रजेश ने भी जहर खाकर खुदकुशी की कोशिश की है। सिपाही का फिलहाल इलाज चल रहा है। ट्रिपल मर्डर के पीछे का मोटिव क्या है इसको लेकर पुलिस छानबीन कर रही है।


रांची से कुंदन की रिपोर्ट


आरजेडी का मामला सुलझना आसान नहीं

पटना। RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की पहल के बाद भी पार्टी के दो बड़े नेताओं के बीच का विवाद नहीं सुलझ पाया। रघुवंश प्रसाद सिंह और जगदानंद सिंह के बीच शुक्रवार को करीब 1 घंटे तक पार्टी कार्यालय में बंद कमरे में बातचीत तो हुई लेकिन बैठक के बाद दोनों के तेवर ने बता दिया कि मामला सुलझना आसान नहीं है। इन सब के बीच रघुवंश प्रसाद सिंह आज लालू यादव से मुलाकात करेंगे।


रांची के रिम्स में भर्ती लालू प्रसाद यादव से आज रघुवंश प्रसाद सिंह की मुलाकात होगी। लालू यादव से मिलने के लिए रघुवंश प्रसाद 11.30 बजे रिम्स जाएंगे। ऐसे कयास लगाये जा रहे हैं कि दोनों के बीच जगदानंद से चल रहे विवाद और रघुवंश प्रसाद की लिखी चिट्ठी पर चर्चा होगी।


दरअसल जगदानंद के प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के बाद रघुवंश प्रसाद कई बार खुलेआम उनका विरोध कर चुके हैं। जगदानंद पार्टी को अनुशासन के साथ चलाने पर जोर दे रहे हैं। उन्होंने कार्यकर्ताओं के बेवजह पार्टी ऑफिस में बैठने पर रोक लगा दी। जिसके बाद रघुवंश ने इसका विरोध करते हुए कहा था कि कार्यकर्ता पार्टी ऑफिस में नहीं बैठेंगे तो कहां जाएंगे, पार्टी अनुशासन के चाबुक से नहीं चलती। इस मामले को लेकर रघुवंश प्रसाद ने लालू यादव को पत्र लिखकर अपना गुस्सा भी जाहिर किया था।


खुशबू गुप्ता


विशेष विमान से 324 लोगों को लाए वापस

नई दिल्ली। भारतीय विशेष विमान चीन के वुहान एयरपोर्ट से 324 भारतीयों को लेकर शनिवार सुबह दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पहुंच गया है। कोरोना वायरस के खतरे को ध्यान में रखते हुए भारत से यह विमान 324 भारतीयों को वापस लाया गया है। वुहान, हुबेई की प्रांतीय राजधानी है। यहां कोरोना वायरस का सबसे ज्यादा संक्रमण देखा गया है। चीन में अब तक कोरोना वायरस ने 259 लोगों की जान ले ली है और 10,000 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं।


इस बीच चीन के वुहान से देश लौटने वाले भारतीयों की जांच के लिए सेना ने बड़ी तैयारी की है। भारतीयों को लाने चीन के लिए उड़ा एयर इंडिया का प्लेन वुहान में शुक्रवार शाम करीब 7 बजे लैंड किया।


आपको बताते जाए कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना को ग्लोबल इमर्जेंसी घोषित किया है। यहां वायरस संक्रमण के 11,791 मामले सामने आ चुके हैं। दूसरी ओर अस्पतालों में भर्ती 243 लोगों को इलाज के बाद छुट्टी दी जा चुकी है।
आईटीबीपी ने भी दिल्ली में ऐसी व्यवस्था की है, जहां 600 लोगों के इलाज, देखभाल के लिए अलग से बिस्तर की व्यवस्था कर दी है। सेना ने हरियाणा के मानेसर में एक केंद्र बनाया है, जहां चीन से आए लोगों पर निगरानी रखी जाएगी। पहले यात्रियों की हवाईअड्डे पर जांच की जाएगी और उसके बाद उन्हें मानेसर स्थित केंद्र में ले जाया जाएगा। अगर किसी के कोरोना वायरस से ग्रसित होने की आशंका होगी तो उसे दिल्ली कैंट स्थित अस्पताल में बने एक अलग वॉर्ड में शिफ्ट किया जाएगा।


शिकायतः डाटा ऑपरेटर के खिलाफ कार्रवाई

बुलन्दशहर। किसानों ने करीब एक सप्ताह पूर्व प्रभारी मंत्री अशोक कटारिया और सांसद डॉ. भोला सिंह की अध्यक्षता में आयोजित जिला निगरानी समिति की बैठक में अनूपशहर में तैनात डाटा आपरेटर की शिकायत की थी जिसके चलते जिला कृषि उपनिदेशक ने डाटा आपरेटर की सेवा समाप्त करते हुए संबंधित कंपनी को पत्र भेजा है। बता दें कि जिला निगरानी समिति की बैठक में अनूपशहर विधायक संजय शर्मा ने अनूपशहर में तैनात कृषि विभाग के संविदाकर्मी प्रशांत चौधरी पर किसानों से अभद्रता करने और सम्मान निधि के लिए डाटा दुरुस्त कराने के एवज में रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था। इसे देखते हुए प्रभारी मंत्री अशोक कटारिया और डीएम रविंद्र कुमार ने मामले की जांच कर तुरंत हटाने के आदेश जारी किया था। कृषि उपनिदेशक आरपी चौधरी ने सक्षम अधिकारी से मामले की जांच कर डाटा आपरेटर प्रशांत चौधरी की सेवा समाप्त कर दी। इसके साथ ही संबंधित कंपनी के चार्टर्ड एकाउंटेंट को पत्र भी लिखा है। इसके बाद किसानों की समस्याओं को देखते हुए दूसरे आपरेटर की भी मांग की गई है।


गर्भवती के लिए खतरनाक खराश

सर्दी के मौसम में गले में खराश, जलन और दर्द होना आम समस्या है। लेकिन इस दौरान खाने-पीने में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। खासतौर पर अगर यह समस्या किसी गर्भवती महिला को हो जाती है तो उसके लिए तकलीफ कुछ ज्यादा ही बढ़ जाती है। यहां जानिए, सामान्य दिनों के साथ गर्भावस्था में गले के दर्द से मुक्ति दिलाने वाले आसान घरेलू उपाय… 
क्यों होती है सोर थ्रोट की दिक्कत?


गले में दर्द या सूजन अधिकतर वाइरल के दौरान या बैक्टीरियल इंफेक्शन के कारण होती है। इस दौरान गले में दर्द और जलन की समस्या होती है। गर्भावस्था में महिलाओं को जी मितली की समस्या भी होती है, इस कारण भी उन्हें कई बार गले से संबंधित परेशानियों का सामना करना पड़ता है। 
गुनगुना पानी पिएं 
खाने के बाद या जब भी प्यास लगे उस समय आपको गुनगुना पानी पीना चाहिए। सर्दी के मौसम में यह पानी आपके गले की तकलीप को दूर करने में तो मददगार होगा ही साथ ही आपके पाचन को भी ठीक रखेगा। यानी एक इलाज से दो बीमारियां दूर करने का तरीका।
अदरक की चाय 
अगर आपको चाय पीना पसंद है तो आप अदरक की चाय बनाकर पी सकती हैं। गर्म चाय को धीरे-धीरे घूंट-घूंट कर पीने से आपके गले की सिकाई होगी और इंफेक्शन दूर होगा। यह चाए आप दिन में तीन बार से ज्यादा ना लें। दिक्कत बहुत अधिक हो तो गले पर विक्स लगाएं औ गर्म पानी का सेवन करें।
लेमन और हनी टी 
दूध की चाय पीना पसंद ना हो तो आप लेमन और हनी टी का सेवन कर सकती हैं। लेमन ऐंटीबैक्टीरियल होता है तो और शहद जलन को शांत करने का काम करता है। यानी लेमन ऐंड हनी टी आपके गले की परेशानी को ठीक करेगी, स्वाद भी देगी और जलन भी शांत होगी।
हल्दीवाला दूध 
जी हां, हल्दी ऐंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज से भरपूर होती है। गर्म दूध में हल्दी और शहद मिलाकर आप इस दूध का सेवन कर सकती हैं। इसे पीने से आपका गला तो जल्द ठीक होगा ही साथ ही आपका मूड अच्छा रहेगा और नींद अच्छी आएगी।


गुणसूत्रों की संख्या भिन्न

खच्चर एक गधे और घोड़ी के मिलन से उत्पन्न एक संकर संतान है। यह बेसर के समान है जिसका जन्म एक घोड़े और गधी के मिलन के परिणामस्वरूप होता है। घोड़ा और गधा विभिन्न प्रजाति हैं और इनमें गुणसूत्रों की संख्या भी भिन्न होती है। जहाँ गधे में 62 गुणसूत्र होते हैं वहीं घोड़ों में इनकी संख्या 64 होती है। खच्चर को आमतौर पर बोझा ढोने के काम में लाया जाता है। औद्योगीकरण से पहले खच्चर सामान को लाने ले जाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाया करते थे। सभी नर खच्चर बंध्य होते हैं, जबकि मादा खच्चर कुछ दुर्लभ मौकों पर गर्भधारण कर सकती हैं। खच्चर का आकार इसको जन्म देने वाली घोड़ी के आकार पर निर्भर करता है। खच्चर एक मेहनती जीव है। वह काफी बोझा ढो सकता है। खास तौर से पहाड़ी इलाकों में खच्चर सवारी के काम भी आता है। मुझे यह जानकर बहुत आश्चर्य और दुख हुआ कि जीव विज्ञान में इस उपयोगी चौपाए को एक प्रजाति की हैसियत भी नहीं दी गई है। दरअसल, पहले जब मैंने प्रजातियों के बारे में पढ़ा था तो मुझे ऐसा लगा था कि खच्चर एक स्वतंत्र प्रजाति है मगर धीरे-धीरे यह दुर्भाग्यपूर्ण तथ्य साफ हुआ कि खच्चर कोई प्रजाति नहीं है। इसका सम्बन्ध जीव विज्ञान में प्रजातियों व अन्य जैविक समूहों की परिभाषा से है। तो मैंने इन परिभाषाओं का अध्ययन शुरु किया। और मैंने पाया कि मामला न सिर्फ पेचीदा है, बल्कि दिलचस्प भी है। क्या है प्रजाति के मायने? प्रजातियों की परिभाषा के पचड़े में पड़ने से पहले एक बुनियादी बात कह देना ठीक रहेगा। जैसा कि हमेशा होता है, हर बात अरस्तू तक पहुँचे बिना मज़ा नहीं आता। दरअसल, 18वीं सदी से पहले और उसके बाद प्रजातियों की समझ में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन होता है। अरस्तू से लेकर कार्ल लीनियस तक प्रजाति एक अपरिवर्तनीय श्रेणी थी। यह सजीवों के एक ऐसे समूह को परिभाषित करती थी जो चिर-स्थायी माना जाता था। अरस्तू मानते थे कि हर प्रजाति का एक मूल तत्व होता है। सन्तानोत्पत्ति वह क्रिया है जिसके ज़रिए यह मूल तत्व अगली पीढ़ी को सौंपा जाता है। इस तरह से देखें तो खच्चर उनके लिए एक बड़ी चुनौती थी। उसमें न तो घोड़े का मूल तत्व है, न गधे का, तो फिर खच्चर का मूल तत्व क्या है? कार्ल लीनियस, जिन्होंने सारे सजीवों को समानता के आधार पर समूहों में बाँटने का प्रयास किया था और हमें आधुनिक वर्गीकरण प्रणाली दी थी, भी मानते थे कि प्रजाति एक स्थायी समूह है। दरअसल, वे तो यह भी मानते थे कि हर प्रजाति का एक आदर्श उदाहरण होता है, बाकी सारी विविधता त्रुटि है, विचलन है। जब जैव विकासवाद ज़ोर पकड़ने लगा तो सबसे पहली चोट प्रजाति की जड़ता पर हुई। लैमार्क ने विकास की प्रक्रिया के बारे में जो विचार दिए थे वे आज मान्य नहीं हैं मगर लैमार्क का बुनियादी योगदान यह माना जाना चाहिए कि उन्होंने प्रजातियों को सतत परिवर्तनशील समूह माना था। इसके बाद डार्विन ने तो चिर-स्थायित्व की चूलें ही हिला दीं। डार्विन ने प्रजातियों के बारे में दो बुनियादी विचार सामने रखे। डार्विन का पहला महत्वपूर्ण विचार यह था कि एक ही प्रजाति में विविधता उसका स्वाभाविक गुण है। अर्थात् प्रजाति के सदस्यों में विविधता का पाया जाना कोई त्रुटि अथवा विचलन नहीं बल्कि प्रकृति का नियम है। यह लीनियस की समझ से एकदम विपरीत है। डार्विन ने दूसरी बात यह रखी कि प्रजातियाँ सतत परिवर्तनशील हैं और उपरोक्त विविधता ही परिवर्तन का कच्चा माल है। यानी विविधता में ही विकास के बीज हैं। डार्विन के साथ हम जीव विज्ञान में कई कदम आगे बढ़े। आमतौर पर प्रजाति को इस तरह परिभाषित करते हैं: प्रजाति ऐसे सजीवों का समूह है जो प्राकृतिक रूप से परस्पर प्रजनन कार्य करते हैं और प्रजनन-क्षम सन्तानें उत्पन्न करते हैं। इसके साथ यह शर्त भी जुड़ी है कि वे किसी अन्य समूह के साथ संतानोत्पत्ति न करते हों। यह परिभाषा हमें अन्र्स्ट मेयर से मिली है। इसी का अपेक्षाकृत आधुनिक संस्करण यह है कि प्रजाति ऐसे सजीवों का समूह है जिनमें जिनेटिक सामग्री का प्रवाह सहजता से होता है। कौन किस प्रजाति का सदस्य
आमतौर पर यह बताना आसान होता है कि कौन-से जीव एक ही प्रजाति के सदस्य हैं। जैसे मनुष्य एक प्रजाति है – होमो सेपिएन्स। इसी प्रकार से अमरूद, सेब, बाघ, बकरी वगैरह भी एक-एक प्रजातियाँ हैं। मगर सिर्फ देखकर इस बात का पता लगाने में धोखा हो सकता है। कई बार दो जीव एकदम एक जैसे दिखते हैं, एक ही स्थान पर रहते हैं मगर प्रजनन क्रिया की दृष्टि से अलग-अलग होते हैं। इसके विपरीत कई बार जीव बहुत अलग-अलग दिखते हैं मगर आपस में सन्तानोत्पत्ति करते हैं। मगर ये तो व्यावहारिक समस्याएँ हैं। वैसे तो प्रजाति की इस परिभाषा को लागू करने में व्यावहारिक समस्याएँ भी काफी कठिन हैं। जैसे यह तो कदापि सम्भव नहीं होगा कि दुनिया के सारे जीवों के बारे में प्रमाण जुटाया जा सके कि वे किस-किसके साथ सन्तानोत्पत्ति कर सकेंगे। यह सही है कि आप प्राणियों की सन्दिग्ध जोड़ियों को ज़बर्दस्ती एक साथ रखकर देख सकते हैं कि वे परस्पर प्रजनन क्रिया करते हैं या नहीं। मगर इसके आधार पर कोई निष्कर्ष निकालना सम्भव नहीं होगा। कारण यह है कि प्रयोग के दौरान उनके व्यवहार से यह नहीं कहा जा सकता कि प्राकृतिक रूप से मुलाकात होने पर वे क्या करेंगे। इस तरह के कुछ प्रयोग किए भी गए हैं।वैसे प्रजातियों के बारे में निर्णय करने का एक आधार यह भी है कि क्या उनमें निषेचन प्रणाली अलग-अलग है। निषेचन प्रणाली अलग होने से आशय है कि हो सकता है कि दो समूह वर्ष में अलग-अलग समय पर प्रजनन करते हों, या अलग जगह प्रजनन करते हों, या फिर उनके प्रजननांग में तालमेल न हो आदि, आदि। यह परिभाषा खासतौर से उन प्राणियों पर लागू की जा सकती है जो एक ही भौगोलिक क्षेत्र में रहते हों या अलग-अलग क्षेत्र में रहते हों मगर शक्ल सूरत में एक जैसे हों। प्रजनन आधार बनाम शरीर रचना
बहरहाल, व्यावहारिक दिक्कतों को छोड़ दें, तो इस परिभाषा में कुछ ज़्यादा बुनियादी दिक्कतें भी हैं।
जैसे यह परिभाषा शुद्धत दो जीवों में लैंगिक सन्तानोत्पत्ति पर टिकी है। यानी पूरी बात यह है कि जीवों का समूह-विशेष प्रजनन की दृष्टि से अन्य समूहों से अलग-थलग है। कुछ बैक्टीरिया ऐसे होते हैं जो लैंगिक प्रजनन नहीं करते। इन पर यह परिभाषा लागू करना बहुत मुश्किल है क्योंकि ऐसा हरेक बैक्टीरिया हर अन्य बैक्टीरिया से प्रजनन की दृष्टि से अलग-थलग है। तो क्या ऐसे हरेक बैक्टीरिया को एक-एक प्रजाति माना जाएगा? वैसे बैक्टीरिया इस सन्दर्भ में एक और समस्या पेश करते हैं। यह देखा गया है कि बैक्टीरिया में (लैंगिक प्रजनन की प्रक्रिया बगैर) जैनेटिक सामग्री का लेन-देन काफी आसानी से होता है। तो सवाल यह है कि क्या हर एक-एक बैक्टीरिया एक-एक प्रजाति है या सारे बैक्टीरिया (जिनमें जैनेटिक सामग्री का लेन-देन होता है) एक ही प्रजाति के सदस्य हैं?ऐसे प्राणियों के मामले में प्रजनन कार्य की बजाय उनकी शरीर रचना और उनकी शरीर क्रिया को ध्यान में रखना होता है। यानी आपको उनके जैव रासायनिक लक्षणों को देखना होगा। आमतौर पर इनके बारे में यह देखा जाता है कि उनका मेेज़बान यानी होस्ट कौन है या वे किन पोषक पदार्थों का उपभोग करते हैं और उनके द्वारा बनाए गए पदार्थ यानी मेटाबोलिक प्रॉडक्ट्स कौन-से हैं। प्रजनन-आधारित परिभाषा की एक समस्या का सम्बन्ध जीवाश्मों से है। बात ऐसे प्राणियों के जीवाश्म की है जो अब धरती पर नहीं पाए जाते। जैसे डायनासौर। जब ऐसे जीवाश्म प्राप्त होते हैं तो यह पता लगाना असम्भव है कि प्राणियों के रूप में वे किन अन्य जीवाश्म प्राणियों के साथ इश्क लड़ाते होंगे। और यदि वे आज के प्राणियों से मिलें तो क्या करेंगे। तो जीवाश्मों की प्रजाति का निर्धारण करना इस परिभाषा के अनुसार कठिन है। इनके मामले में प्रजाति की विकास-आधारित अवधारणा को लागू करना होता है। मगर उसमें भी कई समस्याएँ हैं। वैसे जीवाश्मों की प्रजाति के बारे में अलग से एक लेख में विचार करना ही उचित होगा। और हमारा खच्चर और तीसरी समस्या हमारे बेचारे खच्चर की है। जैसा कि आप जानते ही होंगे, खच्चर नर गधे और मादा घोड़े से उत्पन्न संकर प्राणी है। यदि नर घोड़ा हो और मादा गधा हो तो खच्चर जैसा एक अन्य प्राणी (हिनी) पैदा होता है। सामान्यत:, कुदरती तौर पर, घोड़े और गधे मिलकर सन्तानोत्पत्ति नहीं करते, इसलिए वे अलग-अलग प्रजाति के सदस्य हैं। मगर इन्सान की प्रेरणा से गधे और घोड़े बच्चे पैदा करते हैं। यह प्राणी गधे और घोड़े दोनों की अपेक्षा अधिक ताकतवर होता है और ज़्यादा बोझ ढो सकता है। खच्चर में जो अतिरिक्त ताकत व सहनशीलता पाई जाती है वह संकर स्फूर्ति (हाइब्रिड विगर) का परिणाम है। जन्तुओं में ऐसे मामले कम पाए जाते हैं मगर वनस्पतियों में इस तरह के संकर काफी मिलते हैं। मगर इसकी एक विशेषता यह है कि यह सन्तान पैदा नहीं कर सकता। समस्या गुणसूत्रों के कारण पैदा होती है। घोड़े के युग्मज (प्रजनन हेतु अर्धसूत्री विभाजन द्वारा निर्मित कोशिकाएँ) में 32 गुणसूत्र हैं जबकि गधे के युग्मज में 31 होते हैं। इनके मेल से जो कोशिका बनती है उसमें 63 गुणसूत्र होते हैं। यह खच्चर की कोशिका है। इसकी कोशिकाओं में गुणसूत्रों की संख्या विषम होती है – इसलिए अर्धसूत्री विभाजन (गुणसूत्रों का आधा-आधा बँटना) सम्भव नहीं होता। लिहाज़ा खच्चर प्रजनन-क्षम नहीं होता। वैसे देखा गया है कि कभी-कभार, मानव हस्तक्षेप से, खच्चर गधे के साथ समागम करके बच्चे जनता है। मगर साधारण तौर पर खच्चर बच्चे पैदा नहीं कर सकता। अब प्रजाति की परिभाषा लागू कीजिए। आप पाएँगे कि खच्चर एक प्राणी तो है मगर एक प्रजाति नहीं है। घोड़ा एक्वस केबेलस है और गधा एक्वस एसिनस। इसलिए खच्चर का जीव वैज्ञानिक नाम एक्वस केबेलसअएसिनस है। अलबत्ता, यहाँ मैंने सिर्फ यह बताने की कोशिश की है कि प्रजाति जैसी बुनियादी अवधारणा किस तरह की दिक्कतें प्रस्तुत करती है। जीव वैज्ञानिकों के लिए यह फैसला करना सदा आसान नहीं होता कि दो जीव समूहों को एक प्रजाति माना जाए या उन्हें अलग-अलग प्राजितयों में वर्गीकृत कर दिया जाए। खासतौर से प्रजातियों के विकास (स्पीशिएशन) की प्रक्रिया को समझने में यह समस्यामूलक हो जाता है।
प्रजाति के कुछ और पहलुओं की बातें फिर कभी करेंगे। जैसे अलैंगिक जीवों में प्रजाति की समस्या, जीवाश्मों की प्रजाति की समस्या वगैरह।


योगी की शिक्षकों-शिक्षामित्रोंं को सौगात

शिक्षकों और शिक्षामित्रों को योगी सरकार की बड़ी सौगात, लंबे समय से की जा रही मांग पूरी,


लखनऊ। बेसिक शिक्षा परिषद के शिक्षकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों और कर्मचारियों का सामूहिक स्वास्थ्य बीमा कराया जाएगा। शासन ने शुक्रवार को इसकी मंजूरी दे दी।अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार ने बताया कि विभाग में कार्यरत शिक्षकों, शिक्षामित्रों, अनुदेशकों और कर्मचारियों का सामूहिक स्वास्थ्य बीमा स्वैच्छिक होगा और सरकारी उपक्रम से ही कराया जाएगा। स्कूल शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनंद ने बताया कि सामूहिक स्वास्थ्य बीमा की राशि, प्रीमियम और बीमा कंपनी चयन के लिए उनकी अध्यक्षता में समिति गठित की जाएगी। बीमा कंपनियों से टेंडर आमंत्रित कर बीमा कराया जाएगा। परिषदीय शिक्षक लंबे समय से सामूहिक स्वास्थ्य बीमा की मांग कर रहे थे।


विकार ग्रस्त समाज में...

चलो गोपाल-गोडसे 
"तुम सारे मुसलमानों को मार दो और देश के बाहर कर दो। शरजील-अफज़ल तुम जितने हिंदुओं को मार सकते हो मार दो और कर लो मनमानी एक बार। फिर उसके बाद क्या ? उसके बाद क्या योजना है तुम्हारे पास मेरे देश की प्रगति और सुरक्षा के लिए ? क्या उसके बाद भारत विश्व की तीसरी सबसे बड़ी ताक़त का दावेदार बन जाएगा ? क्या बाकी बचे ज़िंदा भारतीयों को रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य व्यवस्था मिल जाएंगे ? क्या उसके बाद भारत का कोई बच्चा भूख से भात-;भात कहते नहीं मरेगा ? क्या उसके बाद बिना आधार दिखाए गरीबों को राशन मिलने लगेगा ? क्या उसके बाद गिरती GDP और रुपए की कीमत पर चिंता नहीं करनी पड़ेगी ?


यदि तुम्हारे इन आंतकी कारनामों से मेरे देश की एक भी समस्या का समाधान है तो तुम बेशक़ खुलकर आगे आओ। और अगर नहीं है तो साम्प्रदायिकता में लिपटी हुई अपनी घटिया सोच लेकर कहीं जाकर डूब मरो। क्योंकि तुम्हारे दिमाग़ में कचरा भरा हुआ है।
तुम क्या गाँधी ,नानक और अब्दुल कलाम के देश को न्याय दे पाओगे। तुम सब औंधी खोपड़ी के पपेट हो जिनको राजनेताओं ने अपना खिलौना बनाया हुआ है।
जहां मेरे देश में एक बस कंडक्टर बिना किसी कोचिंग के IAS की परीक्षा पास कर लेता है और MP के कक्षा 11 के बच्चे पॉलीथिन से पेट्रोल बनाने की विधि पर शोध कर रहे हैं । वहीं तुम जैसे कमअक्ल देश में दहशत का माहौल बना कर सबको मुख्य मुद्दों से भटका रहे हैं। फेसबुक फुरसतिये , व्हाट्सएप फुरसतिये सब बेसिर पैर के ऊल जुलूल मेसेज और पोस्ट शेयर कर रहे हैं। जिनको ढंग से महात्मा गाँधी लिखना नहीं आता वो गाँधी का चरित्र चित्रण कर रहे हैं।


 ये आईटी सेल वालों को तो कोढ फूटेगा , कोढ़ी होकर गल-गल के मरेंगे। इन्होंने मेरे देश के मूल इतिहास को ऐसा तोड़ा मरोड़ा है कि आज लोगों को वही सच लगने लगा है। 
जो ये नाशुकरे दिखा रहे हैं। देश की जड़ों से इस खिलवाड़ का ख़ामियाज़ा पुश्तें भोगेंगी और जो आज बहुत बढ़-चढ़ कर बिना जांच-तांच के पोस्ट-शेयर कर रहे हैं। वे खुद अपनी आने वाली पीढ़ी के आगे महामूर्ख साबित होंगे। क्योंकि बहुत जल्दी आज की पढ़ी- लिखी पीढ़ी पूरी सही परख और तथ्यों के साथ तुम सभी धर्मों के सभी मूर्ख ठेकेदारों से धर्म,जात , राष्ट्रवाद और देशभक्ति पर सवाल करने के लिए सड़कों पर होगी ।


तब तक छोटी सोच के सभी धर्मों के ठेकेदारों सावधान हो जाओ क्योंकि तुम्हारा खून ही सबसे पहले तुमसे सवाल पूछने खड़ा होने वाला है।
कि "विरासत में हमें कौन सी सम्पन्न संस्कृति ,स्वस्थ सोच , विकासशील विचार , भरे पेट और भारतीय होने पर गर्व करने का कारण देने वाले हैं आप लोग "और हाँ तब तक इस्लाम को आतंकवादी और कट्टर क़ौम कहने वाले जान लें कि वो भी हिंदुत्व के इस्लामीकरण की ओर बढ़ चुके हैं।


गोपाल - गोडसे को स्वीकार करने वालो अब बोलो कि आतंकवाद का धर्म होता है । मुसलमान आतंकी और हिन्दू दूध का धुला होता है। ये डर फैलाने वाले इस्लाम में कहते हैं तुम्हारा मज़हब ख़तरे में है हथियार उठा लो । वैसे ही हिन्दूओं में डर पैदा करने वाला कहता है कि तुम्हारा धर्म ख़तरे में हैं हथियार उठा लो। सब डर का धंधा है वोट का धंधा है। वो तुमसे कहते हैं अपने बाप दादा के दिखाए बताए  भारत पर भरोसा मत करो हमारी ज़ुबान पर भरोसा करो। और तुमको अपने बाप दादा से अधिक इन मुफ्तखोरों पर भरोसा है।
अभी तुमने देखा क्या है प्यारों ?? तुम यदि प्यारा भारत बना पाए तो वो अगली लड़ाई सावर्ण और दलित की कराएंगे । वो भी तुममें से एक जीत गया तो अगली लड़ाई भूख और बेरोजगारी से होगी और कल उससे तुममें से कोई जीत नहीं पाएगा क्योंकि भूख और बेरोजगारी से निपटने के लिए आज शिक्षा और स्वास्थ्य की ज़रूरत है जो आज भी तुम्हारे लिए प्राथमिकता नहीं है।


तो मूढ़ों कल राष्ट्रवाद , धार्मिक कट्टरता , साम्प्रदायिकता, भगवा , इस्लाम , स्वरण , दलित और आरक्षण की खिचड़ी बना कर खा लेना। पर आज अच्छे से जान लो उस से भी पेट कतई ना भरेगा। पेट भरने के लिए तब भी अनाज चाहिए होगा इसलिए आज समझ लो !


"इंडिया वाकई किसी के बाप का नहीं , और ना हिन्दू का ना मुसलमान का । India सिर्फ उसका है जो हिन्द से प्यार करता है ।


निधि नित्या


(जिनके कमेंट पर प्रतिक्रिया ना मिले समझ लीजियेगा बक़वास की है उन्होंने और किसी भी बक़वास को ज़रा भी तवज़्ज़ो नहीं दी जानी है )जिनको लगता है कि गोपाल और कसाब की तुलना गलत है तो वो जान लें कसाव तो फिर भी सही हो सकता था क्योंकि वो दूसरे देश में घुसकर दूसरे मुल्क के लोगो को मार रहा था जबकि वो जानता था कि मरने वालों में मुस्लिम भी हो सकते हैं पर उसने ज़ेहाद के नाम पर गैर मुल्क के मुसलमानों को भी नहीं बक्शा पर गोपाल ? गोपाल तो अपने ही देश में धर्म के नाम पर अपने ही देशवासियों पर हमला कर रहा था। इसलिए मेरे लिए ज़्यादा ग़लत गोपाल है। क्योंकि वो अपने ही देश में अपने ही लोगों पर हमला कर रहा था।


'बाबू हुकुम सिंह' की मूर्ति का अनावरण

बिलाल अली
सरकार में हमेशा बाबू हुकम सिंह जी का ही कद बड़ा- राजनाथ सिंह
गौतमबुध नगर। नोएडा में स्वर्गीय बाबू हुकुम सिंह जी के मूर्ति का अनावरण देश के रक्षा मन्त्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को अखिल भारतीय गुर्जर शोध संस्थान में किया हुकुम सिंह जी की याद में पत्रिका का विमोचन किया गया। इस अवसर पर देश के रक्षा मंत्री ने कहा कि बाबू हुकुम सिंह को हमेशा मे भाई साहब ही कहकर पुकारता था हुकुम सिंह जी एक कुशल राजनेता समाजसेवी एवं सच्चे राष्ट्रभक्ति थे उन्होने सेना में रहकर देश का मान बढ़ाया ।


भारतीय संस्कृति संकुचित नहीं है
रक्षामंत्री ने राजनीति के बदलते स्वरूप पर कहा कि राजनीति शब्द आज अपना अर्थ व भाव खो चुका है। सब कुछ निहित स्वार्थ के लिए हो रहा है, जो कि खतरनाक है। राजनीति के पुराने अर्थ को साकार करने के लिए हमें निजी स्वार्थ से ऊपर उठकर देश हित में सोचना होगा। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति संकुचित नहीं है। वसुधैव कुटुंबकम का संदेश यहीं से गया है। उन्होंने युवाओं से भारतीय संस्कृति पर शोध करने का आह्वान किया।


 


बाबु हुकुम सिंह ने राजनीति में आकर दिन रात समाज सेवा मे लगे रहे ओर सभी समाज के लोगों को आगे बढ़ाने का कार्य किया । गुर्जर शोध संस्थान की स्थापना भी उनके सहयोग से की गयी जो आज एक बडा वृक्ष बन चुका है। संस्थान मे भारतीय संस्कृति को लेकर शोध किये जाये ताकि भारतीय संस्कृति का बारे ओर अधिक जानकारी मिल सके। रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत देश का इतिहास काफी पुराना है ओर पूरे विश्व मे भारत ही एक ऐसा देश है जिसके लोग विश्व के हर देश में पाए जाते हैं । भारत में सभी अल्पसंख्यकों को पूरा सम्मान दिया जाता है। फारसी ओर यहूदियो द्वारा पूरे विश्व को बताया गया कि उनका सम्मान जितना भारत मे किया जाता है उतना विश्व के किसी देश मे नही किया गया। उनके मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान प्रदेश में 17 पिछड़ी जातियो को अति पिछड़ी जाति का दर्जा दिया गया जिस कमेटी की संस्तुति पर यह सब किया उस कमेटी के अध्यक्ष बाबूजी हुकुम सिंह जी थे उन्होने खटीक ,कुम्हार ,बढ़ाई गुर्जर समेत अन्य 17 जातियांे को अति पिछड़ी में शामिल करने का ड्राफ्ट तैयार किया उस ड्राफ्ट की कॉपी को देखने के लिये भारत के अन्य राज्यो से प्रतिनिधि आकर देखते है कि कितने प्रभावशाली तरीके एॅव सच्चाई से उक्त ड्राफ्ट तैयार किया। प्रदेश मे जब उनके नेतृत्व मे भाजपा सरकार बनी थी तो हुकुम सिंह जी के पास ऊर्जा मंत्रालय था तो एक सभा मे लोगो ने बताया कि शाम के वक्त बिजली नहीं आती है जिसकी वजह से बच्चो की पढाई प्रभावित हो रही है। तो मेने हुकुम सिंह जी बात कर लोगो की समस्याओ के बारे मे बताया तो बोले कोई नही ग्रामीणो के शाम के वक्त बिजली जरुर मिलेगी ओर ऐसा ही हुआ उन्होने ऐसी कार्ययोजना बनायी ओर एक सप्ताह के अन्दर ही पूरे प्रदेश मे बिजली मिलनी शुरु हो गयी। हुकुम सिंह जी महान व्यक्तित्व के धनी थे मै भले ही उनसे पद में बडा था लेकिन कद मे उनसे छोटा था। नागरिकता संशोधन अधिनियम लेकर हो रहे बवाल पर बाले कि कुछ लोग बिना वजह के मामले को तूल दे रहे हैं । जबकि नागरिकता संशोधन अधिनियम के तहत किसी भी भारतीय को अपनी नागरिकता सिद्ध नहीं करनी है ना ही उनकी नागरिकता खत्म होने वाली है लेकिन कुछ लोग गुमराह कर रहे है। भारत देश सभी का है यहॅंा पर सभी का बराबर का हक है यदि देश के अन्दर कोई व्यक्ति पाकिस्तान की जय जयकार करेगा तो उसको बख्शा नहीं जाएगा चाहे वह किसी भी धर्म या किसी भी जाति को हो। कार्यक्रम की अध्यक्षता केन्द्रीय सामाजिक न्याय एॅव अधिकारिता राज्य मन्त्री कृष्णपाल गुर्जर द्वारा की गयी। इस अवसर कृष्णपाल गुर्जर ने कहा कि उनके लिए बड़े गर्व का विषय है कि बाबू हुकुम सिंह जी द्वारा समाज एॅव देश के लिये अनेक कार्य किये गये है जिनमे संस्थान की स्थापना भी उनमे से एक है । आज यह पौधा विराट रूप ले चुका है इसके माध्यम से सैकड़ों छात्रो को फ्री कोचिंग दी जा रही है जिसकी वजह से सैकडो छात्रो को सरकारी नौकरियों मिल चुकी हैं । पूर्व मंत्री हरिश चंद भाटी ने गुर्जर इतिहास के बारे में बताते हुए कहा कि गुर्जर इतिहास काफी पुराना है राजा मिहिर भोज से लेकर अन्य राजाओं ने भारत पर शासन किया जिन्होंने हमेशा बाहरी आक्रमणकारियो से अपना बलिदान देकर देश की रक्षा की है। गूर्जर समूदाय ने मुगलों और अंग्रेजों से संघर्ष किया जिसकी वजह से उनको जंगल और पहाड़ों में जाकर छिपना पड़ा आज भी अधिकाश गूर्जर समुदाय के लोग पहाडो ओर नदियो के किनारे बसे मिलते है। गूर्जरो का इतिहास हमेसा बलिदान देने के लिये जाना जाता है मेवाड़ में पन्नाधाय का उदाहरण तो पूरा देश जानता है जिसने अपने बच्चे की जान देकर कुंवर की जान बचाई थी यदि वह अपने बच्चे की जान देकर कुॅवर की जान नहीं बचाती तो आज राजस्थान के अंदर मेवाड़ का इतिहास खत्म हो चुका होता। परिवहन राज्य मन्त्री एॅव संसदीय कार्यमन्त्री अशोक कटारिया ने कहा कि गूर्जर जाति का नाम नही बल्कि संस्कृति है । इस अवसर पर पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं सांसद डॉ महेश शर्मा, राज्यसभा सदस्य सुरेंद्र नागर , कैराना के संासद प्रदीप चैधरी, तिगाॅव विधायक राजेश नागर,लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर, गुर्जर महासभा के अध्यक्ष दिनेश गुर्जर शामली गन्ना विकास संस्थान के अध्यक्ष एॅव पूर्व मन्त्री नवाब सिंह नागर ,नोएडा विधायक पंकज सिंह, दादरी विधायक मास्टर तेजपाल नागर, जेवर विधायक धीरेंद्र सिंह , पूर्व मंत्री एवं विधान परिषद सदस्य नरेंद्र भाटी , आईएमए नोएडा के अध्यक्ष विपिन माल्यिान, गूर्जर इडियंन इडस्टरी ग्रेटर नोएडा के अध्यक्ष बाबू राम भाटी, संस्थान के अध्यक्ष डॉ योगेंद्र चैधरी,संस्थान के संस्थापक सदस्य शोभाराम भाटी ,विजेंद्र मुंशी ,समेत हजारों लोग उपस्थित रहे।



श्रुत सेवा निधि का अक्षराभिषेक उत्सव

श्रुतसेवा निधि न्यास का अक्षराभिषेकोत्सव दो फरवरी को


छदामीलाल जैन मंदिर में आयोजकों ने वार्ता के दौरान दी जानकारी


भोपाल के अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कवि पदम श्री डा. कैलाश मडबैया


बताया जिले की दो प्रतिभाशाली छात्राओं को भी किया जायेगा सम्मानित


फिरोजाबाद। श्रुत सेवा निधि न्यास का वार्षिक समारोह अक्षराभिषेकोत्सव दो फरवरी को दोपहर डेढ़ बजे नगर के फिरोजाबाद क्लब हाॅल में होगा। समारोह में भोपाल के अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कवि, लेखक एवं साहित्यकार पदम श्री डा. कैलाश मडबैया को शांति देवी गुप्त श्रुत सेवा अलंकरण से सम्मानित किया जायेगा। इसके साथ ही जिले के दो प्रतिभाशाली छात्राओं को भी सम्मानित किया जायेगा उक्त जानकारी छदामीलाल जैन मंदिर में आयोजित वार्ता के दौरान आयोजकों में वरिष्ठ अधिवक्ता अनूप चंद्र जैन एडवोकेट, अजय जैन एडवोकेट, उद्यमी ललितेश जैन, हरीकिशन जैन, प्रमोद कुमार जैन सोनल, जिनेंद्र जैन, अमित जैन राजा ने संयुयक्त रूप से बताया कि कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदीप कुमार जैन, चेयरमैन पीएनसी ग्रुप आगरा, विशिष्ट अतिथि एमएलसी पुष्पराज जैन कन्नौज, सम्मानीय अतिथि सीडीओ नेहा जैन, न्यास गौरव के रूप में नगर विधायक मनीष असीजा व सेठ महावीर प्रसाद जैन मौजूद रहेंगे उन्होंने बताया कि 2019 में हाईस्कूल की परीक्षा में जिला टाॅप करने वाली राजनंदनी यादव एवं इंटर की परीक्षा में जिला टाॅपर गांव ढोलपुरा निवासी पूजा यादव को समारोह के दौरान शाॅल, प्रशस्ति पत्र के अलावा प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया जायेगा। कार्यक्रम में प्रोफेसर प्रकाशचन्द्र जैन द्वारा लिखित चित्रसैन पदमावती खण्डकाव्य, डा. चन्द्रवीर जैन की विविधा एवं सुभाष चंद्र यादव की आत्ममंथन पुस्तकों का लोकार्पण भी किया जायेगा। आयोजकों के अनुसार कार्यक्रम की तैयारियां पूर्ण हो चुकी हैं। वार्ता के दौरान अजय जैन बजाज भी मौजूद रहे।


अतिक्रमण मुक्त सड़को का बीडा उठाया

लुधियाना। पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल ने शहर की ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने का पूरी तरह से बीड़ा उठा लिया है। 12 सड़कों से अतिक्रमण हटवाने के बाद अब शहर की 28 सड़कों से अवैध कब्जे हटवाए जाएंगे। पांच फरवरी के बाद उक्त 28 सड़कों पर भी रेहड़ी-फड़ियां नहीं लग पाएंगी। इसके लिए अभी से पांच फरवरी तक अवैध कब्जे को हटाने के लिए जागरूक किया जाएगा। इसके बाद भी अगर कब्जाधारी नहीं हटे तो उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज की जाएगी।


पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल ने बताया कि इसके लिए टीमें गठित कर दी गई हैं। साथ ही टीमों को यह भी बता दिया गया है कि पांच फरवरी के बाद भी अगर इन 28 सड़कों से अवैध कब्जे नहीं हटे तो उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज की जाए। अगर इन सड़कों से भी अवैध कब्जे हट जाएंगे तो शहर की ट्रैफिक व्यवस्था में काफी सुधार हो जाएगा। इसके पहले चले अभियान से पुलिस प्रशासन ने चौड़ा बाजार, फील्ड गंज समेत कई बाजारों से कब्जों को हटवाया था।


दूसरे फेज का शेडय़ूल: इन सड़कों पर होगी कार्रवाई


जोधेवाल चौक से सरदार नगर पुली तक
जीटी रोड डाबा से जैन का ठेका चौक तक
जनता नगर चौक से इटां वाला चौक तक
प्रताप चौक से भगवान चौक तक
चिमनी रोड से मैड दी चक्की चौक तक
विश्वकर्मा चौक से गिल चौक तक
मेन बाजार डेहलो से लेकर साहनेवाल रोड तक
प्रताप चौक से राजपुरा चौक तक
हैबोवाल मेन बाजार से जस्सियां रोड तक
फव्वारा चौक से रोज गार्डन तक
फव्वारा चौक से घुमार मंडी चौक और आरती चौक तक
जोन डी से लेकर सराभा नगर पुलिस स्टेशन तक
फिरोजपुर से बाड़ेबाल तक
फिरोजपुर रोड से अग्र नगर तक
जवाहर नगर कैंप एरिया तक
जीटी रोड से ताजपुर रोड जेल तक
समराला चौक से वीर पैलेस तक
जोधेवाल चौक से थाना मेहरबान तक
ओसवाल हॉस्पिटल से आरती स्टील टंडारी पुल तक
रेखी सिनेमा चौक से केसरगंज मंडी चौक तक
जामा मस्जिद से शाहपुर रोड तक
गुरुद्वारा कलगीधर साहिब से सुभानी बिल्डिंग चौक तक
डिवीजन नंबर तीन चौक से सीएमसी चौक तक
सब्जी मंडी चौक से बहादुर के रोड तक
आत्म नगर चौक से दुगरी रोड तक
दुगरी नहर से दुगरी थाना तक
बी 7 चौक से ललतों चौक तक
जीटी रोड से गौशाला
टिब्बा रोड
रेहड़ी-फड़ी यूनियन में है आक्रोश, विरोध में कर रहे हैं प्रदर्शन


गौरतलब है कि शहर की 12 सड़कों से अवैध कब्जे हटाए जाने के बाद से रेहड़ी-फड़ी यूनियन में आक्रोश है। यूनियन लगातार धरने प्रदर्शन कर रहा है। साथ ही कुछ पर दर्ज हुए मामलों को वापस लेने की मांग कर रहा है। ऐसे में सीपी का यह नया आदेश शहर के अन्य रेहड़ी-फड़ी वालों के लिए नई मुसीबत बन सकता है।


2 साल के मासूम को कुत्तों ने नौचा

जालंधर। शहर में लावारिस कुत्तों के बाद अब घरेलू पिटबुल, बॉक्सर व सेंट बर्नोड कुत्तों का कहर शहरवासियों पर भारी पड़ने लगा है। शुक्रवार को बस्ती नौ के गणेश नगर में पिटबुल व सेंट बर्नोड कुत्ते ने दो वर्षीय बच्चे को नोंच डाला। वहीं जवाहर नगर से सटे मॉडल टाउन में पिटबुल ने दो लोगों को काट खाया। अभी मंगलवार को ही पुरिया मोहल्ले में एक 12 साल के बच्चे को पिटबुल ने काटा था।


पहली घटना बस्ती नौ के इलाके गणेश नगर में हुई, जहां सेंट बर्नोड व बॉक्सर कुत्ते ने दो वर्षीय बच्चे खुशविंदर सिंह को अपना शिकार बनाया। दुबई से लौटे पिता गुरविंदर सिंह व माता अमनदीप कौर ने बताया कि वह पार्क में खुशविंदर के साथ सैर कर रहे थे। अचानक दोनों कुत्तों ने खुशविंदर को उनसे अलग कर नोंचना शुरू कर दिया। शोर मचाने पर मौके पर जमा हुए लोगों ने किसी तरह बच्चे को दोनों कुत्तों से बताया। इस दौरान कुत्ते का मालिक बीएन शर्मा व बेटा आशु शर्मा भी आ गए।


परिजनों ने आरोप लगाया कि कुत्ते का मालिक व बेटा बच्चे को अस्पताल ले जाने की बजाय, जिन्होंने बच्चे को बचाया उनसे ही बहसबाजी करने लगे। मामला बढ़ने पर थाना पांच में पहुंचा। देर रात तक पुलिस मामला दर्ज करने में जुटी हुई थी। वहीं बच्चे को इलाज के लिए रविदास चौक स्थित अंकुर अस्पताल लाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें घर भेज दिया गया। परिजनों ने बताया कि बच्चे को मोटे कपड़े डाले होने से काफी बचाव हो गया।


जवाहर नगर में रेस्टोरेंट में काम करने वाले को पिटबुल ने नोंचा


जवाहर नगर के नजदीक एक रेस्टोरेंट में काम करने वाले दो लोग पुनीत व अन्य साथी काम से घर लौट रहे थे। इस बीच मॉडल टाउन के पास एक व्यक्ति पिटबुल को रात को घुमा रहा था। पुनीत ने आरोप लगाया कि कुत्ते को घुमा रहे व्यक्ति ने अपना पिटबुल छोड़ दिया और कुत्ते ने उन पर हमला कर दिया और उसके कपड़े फाड़ डाले। घटना की सूचना मिलते ही पीसीआर टीम मौके पर पहुंची, लेकिन तक पिटबुल मालिक कुत्ते को लेकर वहां से चला गया। पुलिस ने पुनीत के बयानों के आधार पर जांच शुरू कर दी है।


शिवसेना-एनसीपी के बीच बढा टकराव

शशि कोंन्हेर
 मुंबई। जैसे संकेत मिल रहे हैं उनके मुताबिक महाराष्ट्र सरकार में शामिल एनसीपी व शिवसेना व शिवसेना के बीच एक नया झगड़ा शुरू होने के आसार दिख रहे हैं  महाराष्ट्र सरकार में शामिल एनसीपी मुस्लिम वोट बैंक के मद्देजनर प्रदेश में मुसलमानों  को आरक्षण देने पर गंभीरता से विचार कर रही है। मुस्लिम आरक्षण का कार्ड खेलते हुए एनसीपी नेता व राज्य के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मालिक ने कहा कि महाविकास आघाडी सरकार जल्द राज्य में मुस्लिम आरक्षण बिल लाएगी। बॉम्बे हाई कोर्ट ने मुस्लिमों को शिक्षा में 4 फीसदी आरक्षण कायम रखा था लेकिन बीजेपी सरकार के इस पर कदम न उठाने से वो लैप्स हो गया था ।
 अब शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सरकार मुस्लिमों को आरक्षण देने पर कानूनी राय लेकर जल्द फैसला लेने वाली है।नवाब मलिक के मुताबिक मुस्लिमों को आरक्षण देने की बात कॉमन मिनिमम प्रोग्राम में है और शिवसेना भी इस मुद्दे पर हमारे साथ है। और जो धर्म के आधार पर आरक्षण देने की बात कहकर इसका विरोध कर रहे है ये उनकी सोच है। उन्होंने अलग चश्मा पहन रखा है। वे इस मुद्दे को अलग नजरिये से देख रहे है। जबकि जहाँ तक कांग्रेस की बात है उसके पास मुस्लिम आरक्षण मुद्दे का समर्थन करने के सिवा कोई और चारा नही है। लेकिन पहले ही कांन्ग्रेस व एनसीपी   के साथ सरकार बनाने से बेचैनी महसूस कर रहे शिवसेना के नेता और कार्यकर्ता इससे नाराज हो सकते हैं। उल्टे इसे लेकर वो पार्टी नेताओं व मुख्यमंन्त्री उद्धव ठाकरे से नाराज हो सकते हैं। और इसी बात के दबाव में शिवसेना मुस्लिम आरक्षण के मुद्दे पर कैसा रिएक्ट करती है? इसका अनुमान नहीं लगाया जा सकता।


बजट मे मिडिल क्लास का रखा ध्यान

साहू आशीष


नई दिल्ली। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट पेश कर रही हैं। उन्होंने कहा कि भारत अब दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन चुका है और केंद्र सरकार का कर्ज घटकर सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के 48.7 प्रतिशत पर आ गया है। यह मार्च, 2014 में 52.2 प्रतिशत था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश करते हुए कहा कि 2014-19 के दौरान औसत वृद्धि दर 7.4 प्रतिशत से अधिक रही। इस दौरान औसत मुद्रास्फीति 4.5 प्रतिशत रही। सीतारमण ने अपने बजट भाषण कई कल्याण योजनाओं मसलन सस्ता घर, प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) और आयुष्मान भारत का जिक्र किया।


आर्थिक सुस्ती के बीच वर्ष 2020-21 के इस बजट को काफी अहम इसलिए भी माना जा रहा है क्योंकि विपक्ष पिछले कुछ समय से इन मुद्दों को लेकर हमलावर रहा है। बजट को लेकर ऐसी संभावना है कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण इनकम टैक्स के साथ-साथ ग्रामीण इलाके और कृषि क्षेत्र के लिए कुछ अहम ऐलान कर सकती हैं।  सरकार के लिए इस बार बजट बेहद चुनौतीभरा हो सकता है। हालांकि, आर्थिक समीक्षा में ऐसे संकेत मिले हैं कि सरकार चुनौतियों के बावजूद रोगजार के साथ आर्थिक वृद्धि को गति देने वाले क्षेत्रों के लिए बड़ी घोषणाएं कर सकती है। बता दें कि इससे पहले शुक्रवार यानी 31 जनवरी को केंद्र की मोदी सरकार ने आर्थिक सर्वेक्षण 2019-20 जारी किया।


-लाभांश वितरण कर समाप्त, अब लाभांश पाने वालों को देना होगा कर।
– वित्त मंत्री ने कहा कि नई आयकर व्यवस्था वैकल्पिक होगी, करदाताओं को पुरानी व्यवस्था या नयी व्यवस्था में से चुनने का विकल्प होगा।
– निर्मला सीतारमण ने कहा, ‘ढाई लाख रुपये तक की आय कर मुक्त बनी रहेगी। ढाई लाख रुपये से पांच लाख रुपये तक की आय पर पांच प्रतिशत की दर से आयकर लागू होगा, लेकिन छूट के बाद पांच लाख रुपये तक की आय पर कर नहीं लगेगा।’
– नई सरलीकृत आयकर व्यवस्था में पांच लाख रुपये तक की आय पर कोई कर नहीं। दस लाख से 12.5 लाख की आय पर अब 20 प्रतिशत, 12.5 से 15 लाख रुपये पर 25 प्रतिशत और 15 लाख रुपये अधिक की आय पर 30 प्रतिशत की दर से कर लगेगा।


अब ऐसा होगा नया टैक्स स्लैब…
5% – 2.5 – 5 लाख कमाई पर
10% – 5-7.5 लाख कमाई पर
15% – 7.5 – 10 लाख कमाई पर
20% – 10 – 12.5 लाख कमाई पर
25% – 12.5 – 15 लाख कमाई पर
30% – 15 लाख और अधिक से ऊपर की कमाई पर
– 5-7.5 लाख रुपये की आय पर 10 प्रतिशत और 7.5-10 लाख रुपये की आय पर 15 प्रतिशत की दर से आयकर का प्रस्ताव।
– चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा 3.3 प्रतिशत के बजट लक्ष्य से बढ़कर 3.8 प्रतिशत रहने का अनुमान।


बजट में डिजिटलीकरण पर किया फोकस

नई दिल्ली। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण लोकसभा में मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का दूसरा बजट पेश कर रही हैं। उन्होंने टेक्वनोलॉजी और डिजिटल इंडिया को लेकर भी कई बड़े एलान किए हैं जिनमें मोबाइल प्रोडक्शन को बढ़ावा देने जैसे एलान शामिल हैं।


MSMEs को अधिक प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए राष्ट्रीय रसद नीति बनाना
पांच नए स्मार्ट शहर बनाए जाएंगे। मोबाइल फोन, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण और सेमी-कंडक्टर पैकेजिंग के निर्माण को बढ़ावा देने के लिए नई योजना का प्रस्ताव। निवेश को आसन बनाने की पहल। युवा इंजीनियरों को शहरी स्थानीय निकायों के साथ इंटर्नशिप के अवसरों की पेशकश की जाएगी।


कृषि निर्यात के लिए विमानन मंत्रालय कृषि उड़ान योजना शुरू करेंगी
डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए नई योजनाएं
6,00,000 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को स्मार्टफोन दिए जाएंगे।
इंटरनेट कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए भारतनेट पर 6,000 करोड़ रुपये होंगे खर्च।
पुराने बिजली मीटर की जगह नए स्मार्ट मीटर लगाने का प्रस्ताव
एक लाख ग्राम पंचायतों को भारतनेट के कनेक्ट किया जाएगा।
देश में डाटा सेंटर पार्क बनाने का प्रस्ताव


जैसा कि वित्त मंत्री ने मोबाइल फोन और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण के प्रोडक्शन को बढ़ावा देने का एलान किया है। ऐसे में मोबाइल फोन पहले के मुकाबले सस्ते हो सकते हैं। इसके अलावा कम कीमत के स्मार्टफोन में भी प्रीमियम फीचर्स मिलने की संभावना है।


वहीं इलेक्ट्रॉनिक उपकरण के निर्माण को लेकर भी सरकार ने मदद की बात की है। ऐसे में टीवी, फ्रिज, कूलर और एसी भी प्रीमियम फीचर के साथ कम कीमत में मिल सकते हैं।


किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य

नई दिल्ली। लोकसभा में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण केन्द्र सरकार का बजट 2020 पेश कर रही हैं।  उन्होंने बजट को शिक्षा स्वास्थ्य और नौकरी पर फोकस रखने वाला बताया। साथ ही उन्होंने कहा कि बजट में किसानों का खास ध्यान रखा गया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि हमारा वतन डल लेक में तैरते हुए कमल जैसा, हमारा वतन नौजवानों के गर्म खून जैसा, हमारा वतन शालीमार बाग जैसा है। बजट पेश करने के दौरान उन्होंने कहा कि सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास से आगे बढ़े। हर व्यक्ति तक बेहतर सुविधा पहुंचाने की कोशिश। मोदी सरकार में बैंकों की हालत बेहतर हुई। 284 अरब डॉलर का निवेश हुआ। जनता की खर्च करने की स्थिति में इजाफा हुआ। किसानों की आय दोगुना करने का हमारा लक्ष्य। पीएम किसान योजना से किसानों को लाभ हुआ। 6.11 करोड़ किसानों के लिए बिमा योजना, किसानों के लिए 16 सूत्रीय योजना, पशुपालन, मछलीपालन पर ध्यान देने की जरूरत। कृषि क्षेत्र में मुकाबला बढ़ाकर स्थिति बेहतर करने की कोशिश करेंगे।


2022 तक किसानों की आय दोगुनी होगी। कृषि क्षेत्र के लिए एक सूत्रीय प्लान। किसानों को लेकर 3 नए कानूनों का पालन करेंगे। बंजर जमीन पर सौर ऊर्जा उत्पादन करेंगे। मछलीपालन पर भी ध्यान देनें की जरूरत। अन्नदाता ऊर्जादाता भी हो सकता है। 20 लाख किसानों के लिए सोलर पंप योजना। जलसंकट से जूझ रहे 100 जिलों के लिए खास योजना है। कृषि मंडियों में सुरक्षा की जरूरत है। डीजल कैरोसीन से सौर ऊर्जा की ओर बढ़ने का लक्ष्य। सरकार का कर्ज घटा है। प्रत्यक्ष विदेश निवेश बढ़ा है। पंचायत स्तर पर नए वेयर हाउस बनाएंगे। अनाज भंडारण की व्यवस्था दुरुस्त करने पर जोर। आम बजट में किसान रेल का एलान। दूध, मांस, मछली के लिए किसान रेल योजना। महिला स्व सहायता समूह को प्रोत्साहित करेंगे। केमिकल खाद की जगह आॅर्गेनिक खाद का इस्तेमाल।100 सूखाग्रस्त क्षेत्रों में काम करेंगे। फसलों को लाने और लेजाने के लिए किसान रेल। बागवानी पर भी जोर दिया जाएगा। किसानों के लिए किसान उड़ान स्कीम। 2025 तक दुग्ध उत्पादन दोगुना करने का लक्ष्य।


वायरस अटैकः स्टारो ने मास्क पहने

मुंबई। हालांकि अभी तक मुंबई में कोरोना वायरस का कोई भी मामला सामने नहीं आया है, लेकिन कुछ बॉलीवुड कलाकार कोई जोखिम नहीं उठाना चाहते हैं। हाल ही में एयरपोर्ट पर रणबीर कपूर और सनी लियोनी को मास्क से चेहरा ढके देखा गया।


सेलिब्रिटी फोटोग्राफर विरल भयानी ने मुंबई एयरपोर्ट पर रणबीर कपूर की मास्क पहने तस्वीर खींची। अभिनेता ने टी-शर्ट और खाकी पहन रखा था। साथ ही अभिनेता ने कैप भी पहन रखा था। वैसे ‘संजू’ के अभिनेता एकमात्र ऐसे कलाकार नहीं है, जिन्हें मास्क पहनकर यात्रा करते देखा गया। एक और सेलिब्रिटी फोटोग्राफर मानव मंगलानी द्वारा पोस्ट किए गए वीडियो में सनी लियोनी और उनके पति डेनियल वेबर भी मास्क लगाए नजर आए।


एससी का भ्रष्टाचार मामले में नोटिस जारी

शिवराज राणा की रिपोर्ट


देहरादून। सुप्रीम कोर्ट ने IFS संजीव चतुर्वेदी की याचिका पर प्रधानमंत्री कार्यालय को नोटिस जारी किया है, जिसमें सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत विदेश से काले धन को वापस लाने और केंद्रीय मंत्रियों के भ्रष्टाचार के मामलों की जानकारी दी गई है।जस्टिस नागेश्वर राव और जस्टिस हेमंत गुप्ता की पीठ ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई की। संजीव ने सूचना के अधिकार के तहत अगस्त 2017 में पीएमओ से यह जानकारी मांगी थी।


इस एप्लिकेशन में, संजीव ने प्रधान मंत्री कार्यालय से विदेशों में जमा काले धन को वापस लाने के लिए किए जा रहे प्रयासों से संबंधित जानकारी मांगी कि लोगों के बैंक खातों में कितना पैसा जमा किया गया।इसके साथ ही आरटीआई में यह भी पूछा गया था कि कितने केंद्रीय मंत्रियों को प्रधानमंत्री कार्यालय के भ्रष्टाचार में शामिल होने की शिकायत मिली थी। इन शिकायतों के आधार पर कितने मंत्रियों के खिलाफ क्या कार्यवाही की गई।


हाईकोर्ट ने भी इस याचिका को खारिज किया था। हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देते हुए संजीव ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की। संजीव ने कहा कि प्रत्येक नागरिक को यह जानने का अधिकार है कि जन-प्रतिनिधियों के भ्रष्टाचार के मामले क्या हैं।संजीव की इस याचिका को स्वीकार करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री कार्यालय और केंद्रीय सूचना आयोग को चार सप्ताह में जवाब देने के लिए नोटिस जारी किया है। वकील प्रशांत भूषण ने तब ट्वीट किया था कि सुप्रीम कोर्ट ने काले धन और मंत्रियों के भ्रष्टाचार के मामले में पीएमओ को नोटिस जारी किया है।


 


प्रॉपर्टी डीलर ने ले ली दंपत्ति की जान

पहले मकान दिखाया फिर पैसा लिया और मजबूर कर दिया एक दंपत्ति को आत्महत्या के लिए


सन्दीप मिश्रा


रायबरेली। ना जाने जिले के प्रॉपर्टी डीलरो ने किसकी शह पर जिले में आतंक मचा रखा हैं? एक दंपत्ति को 3 महीने के अंदर जान गवानी पड़ी। यह भी सवालिया निशान है कि 3 महीने पहले पत्नी की मौत पर पुलिस मामले की तह तक पहुंचती तो आज शायद पति जीवित होता। मामला रतापुर का है जहां पर धर्मेंद्र सिंह नाम के व्यक्ति ने प्लाट खरीदने के लिए तीन प्रॉपर्टी डीलरों से सौदा तय किया । प्रॉपर्टी डीलरों ने मिलकर पहले एक अकाउंट बनाया जिस पर पैसों का लेनदेन हुआ । सूत्र बताते है कि उसके तीनों प्रॉपर्टी डीलर लिखा पढ़ी के वक़्त पर मौके से भाग निकले । पीड़ित धर्मेंद्र सिंह ने अपने स्तर पर पैसा वापस हो जाए इसका प्रयास किया लेकिन जब पैसे वापस नहीं हुआ तो वह मानसिक अवसाद की स्थिति में चला गया। बताते है इसी के चलते उसने जहर खा लिया । अस्पताल में उनकी दुखद मृत्यु हो गई । 3 महीने पहले पत्नी की भी मौत हो चुकी है अपने पीछे यह परिवार दो बच्चों को छोड़ गया है अबोध बालक किस तरह से अपना जीवन जिएंगे यह भी सोचने का विषय है । जनपद के प्रॉपर्टी डीलर किसी न किसी राजनीतिक गलियारे से दखल रखते हैं जिसके एवज में वह जमकर सितम मध्यमवर्गीय परिवारों के साथ करते हैं । जमीन जायदाद खरीदारी के नाम पर उनके साथ धोखाधड़ी बेईमानी , , अत्याचार की पराकाष्ठा पार कर लेते हैं । सबसे बड़ा सवालिया निशान पुलिस और प्रशासन व्यवस्था पर भी है । कितने जमीनी मामले आते हैं लेकिन उनको कानूनी प्रक्रिया में लंबित रखा जाता है जिसकी वजह से पीड़ित पक्ष कहीं का नहीं होता । जबकि उत्तर प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ का सख्त आदेश है । उन्होंने एंटी भू माफिया भी बना रखा है लेकिन वह भी इन माफियाओं के आगे बेबस है आखिर क्यों ऐसे डीलरों पर कार्यवाही नहीं होती जो जिले में जमीन खरीदारी के नाम पर गोरखधंधा कर रहे हैं इन पर पुलिसिया कार्यवाही ना होना ही उनके हौसले को बढ़ाती है ।
सवाल जायज भी है आखिर ठगी हो जाने के बाद पीड़ित व्यक्ति किससे शिकायत करें न्याय की गुहार किन से लगाए ? किन परिस्थितियों में टालमटोल और सालों चलने वाली प्रक्रिया के बाद उसे न्याय मिलेगा । इस बात पर खुद वह अपने आप को ठगा महसूस करता है । जनपद में घटित दुखद घटनाक्रम के बाद अब देखना होगा जिला प्रशासन ठगों के गिरोह प्रॉपर्टी डीलर के इस धंधे पर क्या कार्यवाही करता है कैसे आम जनमानस को धोखेबाजी से बचाया जा सकता है यह आने वाला वक्त बताएगा । रायबरेली जनपद में खुलेआम बिना किसी रजिस्ट्रेशन के प्रॉपर्टी डीलर अपना धंधा चलाते हैं जमीन बिकवाने – बेचने के नाम पर कमीशन का खेल होता है सर्किल रेट से अलग होकर पैसों का लेनदेन किया जा रहा है । ऐसे में काले धन पर कार्यवाही की बात छोड़ दीजिए । आम जनमानस को प्रॉपर्टी के नाम पर जो ठगी का सामना करना पड़ रहा है उसके सामने कैसी चुनौती है यह भी समझने का काम प्रशासन कैसे करेगा अभी आने वाला वक्त है करेगा ।
क्या लिखा था सोसाइड नोट में: मृतक धर्मेंद्र सिंह ने मार्मिकता और विवशता से भरा सुसाइड नोट लिखा है आदरणीय पुलिस अधीक्षक महोदय प्रार्थी धर्मेंद्र सिंह पुत्र रामबहादुर सिंह निवासी पूरे दिख्तन मजरे पाकर गांव तहसील तिलोई जिला अमेठी रतापुर स्थित चमेला भवन में छोटा सा व्यापार करता है । एक मकान त्रिपुला महाराजगंज रोड जर्सी फार्म के सामने खरीदने का तय किया था । जिसमें प्रॉपर्टी डीलर विवेक विश्वकर्मा , रामकुमार विश्वकर्मा , शिवकांत विश्वकर्मा द्वारा उनके साथ ठगी की गई । उन्होंने अपनी जमीन बेच कर घर लेना चाहा तीनों प्रॉपर्टी डीलरों को ₹3960000 दे दिया । पैसा लेने के बाद ना तो वह मकान दे रहे हैं और ना ही पैसा वापस कर रहे हैं ऊपर से धमकी दे रहे थे । उन्होंने सुसाइड लेटर में आगे लिखा है इसलिए ऐसी परिस्थितियों में वह सुसाइड कर रहे हैं । लेटर में आकर उन्होंने लिखा है विधायक जी से अनुरोध है इस पर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करवाएं और बच्चों को न्याय दिलवाए ।
जिस तरह से पुलिस अधीक्षक रायबरेली से अपील करते हुए मृतक धर्मेंद्र सिंह ने पूरे घटनाक्रम का जिक्र किया है उससे यह साफ है कि अब तो जनपद के तेजतर्रार पुलिस अधीक्षक ही स्थानीय पुलिस पर भी कार्यवाही करते हुए आखिर क्यों ऐसे दुर्दांत प्रॉपर्टी डीलर पनप रहे हैं और पुलिस उनको संज्ञान में नहीं ले रही थी इस पर भी कार्यवाही करना उनके लिए बेहद जरूरी हो गया है । जैसा कि पुलिस अधीक्षक ने पहले भी कहा था रायबरेली में शांति व्यवस्था को बनाए रखना उनका पहला उद्देश्य होगा अब उसी उद्देश्य के लिए पीड़ित परिवार को उनको न्याय दिलाना होगा उसी के साथ प्रॉपर्टी डीलरों के ऐसे गिरोहों पर सख्त कार्रवाई करनी होगी जिनसे किसी का परिवार ना उजड़े मासूम दर – दर भटकने पर विवश ना हो ।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस    (हिंदी-दैनिक)


फरवरी 02, 2020, RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-176 (साल-01)
2. रविवार, फरवरी 02, 2020
3. शक-1941, माघ - शुक्ल पक्ष, तिथि- अष्टमी, संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 07:07,सूर्यास्त 05:58
5. न्‍यूनतम तापमान 8+ डी.सै.,अधिकतम-21+ डी.सै., हल्की बरसात की संभावना।


6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.,201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.:-935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


 


दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...