मंगलवार, 1 अक्तूबर 2019

मां कुष्मांडा रूपेण संस्थिता

चंद्रमौलेश्वर शिवांशु 'निर्भयपुत्र'


नवरात्रि के चौथे दिन कुष्माण्डा देवी के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन 'अनाहत' चक्र में अवस्थित होता है। अतः इस दिन उसे अत्यंत पवित्र और अचंचल मन से कूष्माण्डा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा-उपासना के कार्य में लगना चाहिए।


कूष्मांडा-सिद्धियां
कूष्मांडा - नवदुर्गाओं में चतुर्थ
देवनागरी-कूष्मांडा
संबंध-हिन्दू देवी
अस्त्र-कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, 
अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा
जीवनसाथी-शिव
सवारी-सिंह
जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था, तब इन्हीं देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी। अतः ये ही सृष्टि की आदि-स्वरूपा, आदिशक्ति हैं। इनका निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है। वहाँ निवास कर सकने की क्षमता और शक्ति केवल इन्हीं में है। इनके शरीर की कांति और प्रभा भी सूर्य के समान ही दैदीप्यमान हैं।


इनके तेज और प्रकाश से दसों दिशाएँ प्रकाशित हो रही हैं। ब्रह्मांड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में अवस्थित तेज इन्हीं की छाया है। माँ की आठ भुजाएँ हैं। अतः ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी विख्यात हैं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा है। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है। इनका वाहन सिंह है।


श्लोक:-सुरासंपूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च।
दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे ॥
महिमा:-माँ कूष्माण्डा की उपासना से भक्तों के समस्त रोग-शोक मिट जाते हैं। इनकी भक्ति से आयु, यश, बल और आरोग्य की वृद्धि होती है। माँ कूष्माण्डा अत्यल्प सेवा और भक्ति से प्रसन्न होने वाली हैं। यदि मनुष्य सच्चे हृदय से इनका शरणागत बन जाए तो फिर उसे अत्यन्त सुगमता से परम पद की प्राप्ति हो सकती है।विधि-विधान से माँ के भक्ति-मार्ग पर कुछ ही कदम आगे बढ़ने पर भक्त साधक को उनकी कृपा का सूक्ष्म अनुभव होने लगता है। यह दुःख स्वरूप संसार उसके लिए अत्यंत सुखद और सुगम बन जाता है। माँ की उपासना मनुष्य को सहज भाव से भवसागर से पार उतारने के लिए सर्वाधिक सुगम और श्रेयस्कर मार्ग है।माँ कूष्माण्डा की उपासना मनुष्य को आधियों-व्याधियों से सर्वथा विमुक्त करके उसे सुख, समृद्धि और उन्नति की ओर ले जाने वाली है। अतः अपनी लौकिक, पारलौकिक उन्नति चाहने वालों को इनकी उपासना में सदैव तत्पर रहना चाहिए।


उपासना:-चतुर्थी के दिन माँ कूष्मांडा की आराधना की जाती है। इनकी उपासना से सिद्धियों में निधियों को प्राप्त कर समस्त रोग-शोक दूर होकर आयु-यश में वृद्धि होती है।[1] प्रत्येक सर्वसाधारण के लिए आराधना योग्य यह श्लोक सरल और स्पष्ट है। माँ जगदम्बे की भक्ति पाने के लिए इसे कंठस्थ कर नवरात्रि में चतुर्थ दिन इसका जाप करना चाहिए।


या देवी सर्वभू‍तेषु माँ कूष्माण्डा रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।'
अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और कूष्माण्डा के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे सब पापों से मुक्ति प्रदान करें।अपनी मंद, हल्की हँसी द्वारा अंड अर्थात ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इन्हें कूष्माण्डा देवी के रूप में पूजा जाता है। संस्कृत भाषा में कूष्माण्डा को कुम्हड़ कहते हैं। बलियों में कुम्हड़े की बलि इन्हें सर्वाधिक प्रिय है। इस कारण से भी माँ कूष्माण्डा कहलाती हैं।


'महात्मा गांधी' (विविध)

महात्मा गांधी किसके हैं? भाजपा और कांग्रेस दोनों ही स्वयं को गांधी जी के पद चिह्नों पर चलने वाली पार्टी बताती हैं।

यूं तो महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता का दर्जा दिया गया है। यानि महात्मा गांधी देश के प्रत्येक नागरिक के प्रेरणा स्रोत है। लेकिन बदले हुए हालातों में देश की दोनों प्रमुख राजनीतिक पार्टियां भाजपा और कांग्रेस महात्मा गांधी को अपना-अपना प्रेरणा स्त्रोत बताती हैं। गंभीर बात ये है कि कांग्रेस जब महात्मा गांधी को अपना बताती है तो भाजपा की आलोचना की जाती है। जब भाजपा महात्मा गांधी के पद चिह्नों पर चलने का दावा करती है तब कांग्रेस को कोसने से बाज नहीं आती है। अब चूंकि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती, 2 अक्टूबर से मनाई जा रही है। तब दोनों ही पार्टियों ने अपने-अपने कार्यक्रम घोषित किए हैं। कांग्रेस पूरे देश में 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती को धूमधाम से मनाएगी और फिर 3 अक्टूबर से 7 अक्टूबर तक देश भर में विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। भाजपा ने भी कहा है कि उनके सांसद अपने अपने विधानसभा क्षेत्रों में पद यात्रा करेंगे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हाल ही में जब संयुक्त राष्ट्र संघ में अपना संबोधन दिया तो संबोधन की शुरुआत महात्मा गांधी के नाम से ही की। मोदी का कहना रहा कि महात्मा गांधी के सिद्धांतों पर चलते हुए ही देश भर में स्वच्छता अभियान चलाया गया है। मोदी ने बताया कि गांधी जी की पहल पर किस तरह देश में घर-घर में शौचालय बनाए गए और अब दो अक्टूबर से प्लास्टिक के उत्पादों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। कांग्रेस तो गांधी जी को अपने घर का मानती है। यह बात अलग है कि देश की आजादी के बाद महात्मा गांधी ने कांग्रेस शब्द को हटाने की बात कही थी। गांधी जी का मानना रहा कि कांग्रेस की भूमिका देश को आजाद कराने तक थी। लेकिन कांग्रेस के नेताओं ने राजनीतिक फायदे के लिए कांग्रेस शब्द को बनाए रखा। कांग्रेस आजादी का पूरा श्रेय महात्मा गांधी को देती है। लेकिन वहीं देश की आजादी में सरदार भगत, सुखदेव, राजगुरु, चन्द्रशेखर आजाद, अशफाक उल्लखां, रामप्रसाद बिस्मिल जैसे क्रांतिकारियों की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही। कांग्रेस को अब लगता है कि सोशल मीडिया के माध्यम से महात्मा गांधी की इमेज को खराब किया जा रहा है। कुछ लोग महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे का महिमा मंडन करने लगे हैं। सोशल मीडिया पर नाथूराम गोडसे के उस ऑडियो को चलाया जा रहा है जो उन्होंने गिरफ्तारी के बाद दर्ज किया था। देखना है कि देश की दोनों प्रमुख राजनीतिक पार्टियां महात्मा गांधी को कब तक भुनाती रहेंगी। 
एस.पी.मित्तल


कांग्रेस के खिलाफ बेरोजगारों का धरना

राजस्थान के बेरोजगारों का 9 अक्टूबर को दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय पर प्रदर्शन। अब कांग्रेस को हराने की शपथ ली। 



जयपुर। शहीद स्मारक के परिसर में प्रदेश भर के बेरोजगारों की एक सभा हुई। राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ के बैनर तले हुई इस सभा में बेरोजगारों ने सरकार को चेतावनी दी कि यदि आठ दिन में मांगे नहीं मानी गई तो 9 अक्टूबर को दिल्ली में कांग्रेस मुख्यालय पर बड़ा प्रदर्शन किया जाएगा। महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेन यादव ने बताया कि राज्य में कांग्रेस सरकार को बनवाने में बेरोजगारों की महत्वपूर्ण भूमिका थी। भाजपा की सरकार ने बेरोजगारों की विभिन्न मांगों को पूरा नहीं किया, इसलिए विधानसभा के चुनाव में घर घर जाकर युवाओं ने भाजपा के खिलाफ प्रचार किया, लेकिन अब कांग्रेस सरकार भी वही कर रही है जो भाजपा ने किया था। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट से लेकर राज्य के मुख्य सचिव तक को बेरोजगारों की समस्याओं से अवगत कराया दिया गया, लेकिन फिर भी समस्या वहीं है। जिन हजारों युवाओं ने परीक्षा उत्तीर्ण कर ली है उन्हें नियुक्ति नहीं मिल रही है। बेरोजगारों में अब सरकार के प्रति भारी आक्रोश है। यादव ने बताया कि मंडावा और खींवसर में होने वाले विधानसभा के उपचुनाव में भी बेरोजगार घर घर जाकर कांग्रेस के खिलाफ प्रचार करेंगे। इसी प्रकार स्थानीय निकाय के चुनावों में भी कांग्रेस का विरोध किया जाएगा। इस मौके पर बेरोजगारों ने कांग्रेस पार्टी को सबक सिखाने का संकल्प भी लिया।
एस.पी.मित्तल


मर्यादाओं को लांग रहे अशोक गहलोत

तकदीर हो तो राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जैसी हो।
अब बेटे वैभव गहलोत को राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन का अध्यक्ष बनवाया। 
क्या रामेश्वर डूडी इस हार को पचा पाएंगे?
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पुत्र वैभव गहलोत ने राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन आरसीए अध्यक्ष पद के लिए नामांकन दाखिल कर दिया है। वैभव का निर्विरोध अध्यक्ष बनना तय है। मतदान चार अक्टूबर को प्रस्तावित है। लेकिन रामेश्वर डूडी के पीछे हट जाने से जाहिर है कि वैभव ही आरसीए के अध्यक्ष बनेंगे। वैभव ने गत लोक सभा का चुनाव जोधपुर से लड़ा था, लेकिन सांसद नहीं बन सके। तब वैभव की उम्मीदवारी और हार को लेकर मुख्यमंत्री पर भी सवाल उठे। यहां तक प्रचारित किया गया कि कांग्रेस के तब के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी गहलोत की भूमिका से नाराज हैं। लेकिन इसे अशोक गहलोत की तकदीर ही कहा जाएगा कि लाख विरोध के बाद भी बेटे को आरसीए का अध्यक्ष बनवा रहे हैं। यदि कांग्रेस का राष्ट्रीय नेतृत्व गहलोत से नाराज होता तो वे अपने पुत्र को क्रिकेट की राजनीति में नहीं फंसाते। वैभव को अध्यक्ष नहीं बनने के लिए प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष और डिप्टी सीएम सचिन पायलट के समर्थक माने जाने वाले क्रिकेट के दिग्गज नेता रामेश्वर डूडी ने पूरी ताकत लगा दी। स्वयं को अध्यक्ष पद का दावेदार घोषित करते हुए यहां तक कहा कि वैभव गहलोत के लिए सत्ता का दुरुपयोग हो रहा है। डूडी ने जिस तरह क्रिकेट की राजनीति में विरोध का झंडा उठाया उससे साफ जाहिर था कि कांग्रेस की राजनीति की लड़ाई सड़कों पर आ गई है। लेकिन इसे अशोक गहलोत की तकदीर ही कहा जाएगा कि उनके विरोधी अपने आप पस्त हो गए। लोकसभा का चुनाव हारने के बाद भी वैभव गहलोत आरसीए के अध्यक्ष बनने जा रहे हैं। जबकि प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट बार बार कह रहे हैं कि कांग्रेस के जिन कार्यकर्ताओं ने पांच साल खून पसीना बहाकर प्रदेश में सरकार बनवाई है उन्हें पहले सम्मान मिलना चाहिए। सूत्रों की माने तो पायलट के विरोध के चलते ही मंत्रिमंडल का विस्तार भी टला है। इसमें कोई दो राय नहीं कि अशोक गहलोत राजनीति के मजे खिलाड़ी है और समय के साथ अपने विरोधियों को जवाब देते हैं। सब जानते हैं कि सचिन पायलट के समर्थक अभी तक भी गहलोत को सीएम के पद पर पचा नहीं पा रहे हैं। समर्थकों को लगता है कि मुख्यमंत्री की जिस कुर्सी पर पायलट का हक था, उस पर गहलोत बैठे हुए हैं। पायलट ने भी अपने इस दर्द को कई बार सार्वजनिक तौर पर कहा है। पायलट का कहना है कि जब राजस्थान में कांग्रेस के मात्र 21 विधायक थे, तब उन्हें प्रदेश अध्यक्ष का दायित्व दिया गया। भाजपा के शासन में पांच साल संघर्ष किया इसलिए प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है। असल में मुख्यमंत्री बनने के बाद गहलोत ने जिस तरह से सरकार को मजबूती है उससे भी पायलट नाखुश हैं। मालूम हो कि हाल ही में बसपा के सभी छह विधायकों को कांग्रेस में शामिल किया गया है, लेकिन ऐसे विधायकों ने पन्द्रह दिन गुजर जाने के बाद भी कांग्रेस की सदस्यता नहीं ली है। यह अपने आप में अजीब बात है कि जिन विधायकों को विधानसभा के अध्यक्ष ने कांग्रेस विधायक के तौर पर मान्यता दे दी उन विधायकों के पास कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता नहीं है। 
जोशी की रणनीति सफल:
वैभव गहलोत के आरसीए का अध्यक्ष बनने में अशोक गहलोत की तकदीर का खेल तो है ही इसके साथ ही आरसीए के मौजूदा अध्यक्ष सीपी जोशी की भी रणनीति रही है। सीपी जोशी शुरू से ही प्रयासरत थे कि वैभव गहलोत को आरसीए का अध्यक्ष बनाया जाए। लेकिन कांग्रेस के ही नेता रामेश्वर डूडी के मैदान  में कूद पडऩे से कई समस्याएं खड़ी हो गई। लेकिन जोशी ने जो रणनीति बनाई उसकी वजह से अब डूडी को पीछे हटना पड़ा है।  सवाल यह भी है कि जिस तरह से डूडी को हार का सामना करना पड़ा, उसे डूडी किस तरह पचाएंगे? भाजपा के शासन में डूडी ने ही विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता की भूमिका निभाई थी, लेकिन गत विधानसभा के चुनाव में डूडी बीकानेर से हार गए। यदि डूडी जीतते तो आज कांग्रेस सरकार में केबिनेट मंत्री होते। भले ही डूडी विधायक का चुनाव हार गए, लेकिन उम्मीद थी कि कांग्रेस की सरकार बनने पर उन्हें किसी राज्यस्तरीय संस्था का अध्यक्ष बनाकर मंत्री पद की सुविधाएं दी जाएंगी, लेकिन नौ माह गुजर जाने के बाद भी डूडी को लाभ कोई पद नहीं मिला है। 
एस.पी.मित्तल


घुसपैठियों की मुश्किल (संपादकीय)

यूपी में अब घुसपैठियों का रहना मुश्किल होगा। 
डीजीपी ने एनआरसी की तर्ज पर प्रत्येक नागरिक की पहचान करने के आदेश दिए।

केन्द्र सरकार ने असम की तर्ज पर यूपी में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स (एनआरसी) के कोई निर्देश नहीं दिए हैं, लेकिन यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ की पहल पर अब देश के सबसे बड़े राज्य में प्रत्येक नागरिक की पहचान करने का काम शुरू कर दिया गया है। राज्य के डीजीपी ने सभी पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए हैं कि वे अपने अपने जिलों में प्रत्येक नागरिक की पहचान करें। यानि अब संबंधित थाना क्षेत्र में रहने वाले प्रत्येक नागरिक की पहचान की जाएगी। भले ही यूपी में एनआरसी नहीं हो रही हो, लेकिन राज्य सरकार की यह पहल अपने आप में बहुत महत्वपूर्ण है। पश्चिम बंगाल, असम आदि राज्यों की तरह यूपी को लेकर भी यह आरोप लगते रहे हैं कि बड़ी संख्या में घुसपैठिए रह रहे हैं। ऐसे घुसपैठियों को बाहर निकालने के लिए ही यूपी सरकार ने अपने स्तर पर एनआरसी की कार्यवाही की है। यूपी के सीएम का कहना है कि राज्य सरकार की रिपोर्ट केन्द्र गृहमंत्रालय को भेजी जाएगी। सीएम की यह घोषणा अपने आप में महत्वपूर्ण है। क्योंकि यदि गृहमंत्रालय इस रिपोर्ट पर कार्यवाही करता है तो फिर घुसपैठियों के लिए बड़ी समस्या खड़ी हो जाएगी। डीजीपी ने एक अक्टूबर को जो निर्देश दिए हैं उससे पूरे उत्तर प्रदेश में खलबली मच गई है। हालांकि कुछ घुसपैठियों ने राशन कार्ड, आधार कार्ड आदि बनवाकर अपनी नागरिकता के सबूत जुटा लिए हैं, लेकिन माना जा रहा है कि पुलिस ऐसे फर्जी दस्तावेज बनवाने वालों के खिलाफ भी कार्यवाही करेगी। यूपी में भाजपा की सरकार है माना जा रहा है कि भाजपा की सरकार ने जो पहल की है ऐसी पहल भाजपा की अन्य सरकारें भी कर सकती है। केन्द्रीय गृहमंत्री अमितशाह पहले ही कह चुके हैं कि एनआरसी पूरे देश में होनी चाहिए। शाह का कहना है कि कोई भी घुसपैठिया भारत में नहीं रह सकता है। 
एस.पी.मित्तल


नेशनल-डे पर चीन ने दिखाई दुनिया को ताकत

बीजिंग। चीन में कम्युनिस्ट शासन (Communist Rule) की स्थापना को आज यानी 1 अक्टूबर को 70 साल पूरे हो गए हैं। बीजिंग में मंगलवार को जोरशोर से इसका जश्न मनाया गया। इस मौके पर बढ़ती राजनीतिक और आर्थिक चुनौतियों के बीच भव्य परेड निकाली गई। अपने मुख्य हथियारों को छिपाकर रखने वाले चीन ने इस परेड में नई परमाणु और हाइपरसोनिक मिसाइलों का प्रदर्शन किया। नेशनल डे परेड में चीन ने एक ऐसी मिसाइल भी दिखाई, जो अमेरिका को महज 30 मिनट में तबाह कर सकती है।
एएनआई ने CNN की रिपोर्ट के हवाले से बताया कि चीन के हाइपरसोनिक मिसाइल DF-41 (डोंगफेंग-41) को दुनिया की सबसे शक्तिशाली मिसाइल माना जा रहा है। CNN की रिपोर्ट के मुताबिक, DF-41 की रेंज 9,320 मील (15 हजार किलोमीटर) तक की है। दुनिया की ये सबसे शक्तिशाली मिसाइल एक साथ 10 परमाणु हथियारों को ढो सकती है और एक ही बार में 10 टारगेट को हिट कर सकती है। ये ठोस ईंधन से चलने वाली, रोड-मोबाइल, अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक परमाणु मिसाइल है।


मिसाइल की खास बातें:-DF-41 का पूरा नाम Dongfeng है। इसका अर्थ होता है East wind. यह मिसाइल 10 मैक की गति से उड़ान भर सकती है।यह मिसाइल दुनिया के किसी भी कोने में महज कुछ ही मिनट में हमला करने में पूरी तरह से सक्षम है।इस मिसाइल की सबसे बड़ी खासियत है कि ये एक ही समय में दस अलग-अलग टार्गेट हिट कर सकेगी। यह मिसाइल न्‍यूक्लियर वारहेड ले जा सकती है।उड़ान भरने के दौरान यह मिसाइल टार्गेट के हिसाब से अपनी ऊंचाई को कम या ज्‍यादा कर सकती है।चीन के सैन्‍य विशेषज्ञ इसको अमेरिका और रूस द्वारा बनाई गई 7वीं जनरेशन की न्‍यूक्लियर मिसाइल के बराबर आंकते हैं। यह मिसाइल दुश्‍मन के राडार से बचने में सक्षम है।2018 में सेना में शामिल करने से पहले इसके आठ सफल टेस्‍ट किए गए थे। इससे चीन को अलग-अलग जगहों पर मिसाइलों की तैनाती से भी छुटकारा मिल गया है।


नेशनल डे परेड के दौरान शी जिनपिंग:-शी जिनपिंग ने कहा- चीन को कोई नहीं रोक सकता।नेशनल डे परेड पर शी जिनपिंग ने कहा, 'चीन ने जबरदस्त बदलाव किया। वह डटा हुआ है, समृद्ध हो रहा है और मजबूत बन रहा है। वह कायाकल्प के उत्कृष्ट आयामों के साथ कदम से कदम मिला रहा है। शी ने कहा कि दुनिया का कोई भी देश चीन और चीन के लोगों को आगे बढ़ने से नहीं रोक सकता। उन्होंने कहा कि हम सभी जोखिमों और चुनौतियों से निपटते हुए आगे बढ़ने, नई सफलताएं हासिल करने के लिए एकता सबसे महत्वपूर्ण हैं।


चीन के पास है दुनिया की सबसे बड़ी आर्मी:-
DF-41 को चीन ने नेशनल डे परेड के लिए पहली बार बाहर निकाला है। बता दें कि चीन के पास दुनिया की सबसे बड़ी आर्मी है, जबकि चीन की वायुसेना दुनिया में तीसरे नंबर पर आती है।


ऐश्वर्या देगी,एंजेलिना को अपनी आवाज

मुंबई। बॉलीवुड एक्ट्रेस ऐश्वर्या राय बच्चन जल्द ही हॉलीवुड एक्ट्रेस एंजेलिना जोली की 'मेलफिसेंट: मिस्ट्रेस ऑफ एविल' के हिन्दी वर्जन में अपनी आवाज देने जा रही हैं। इस फिल्म के बाद ऐश्वर्या डिज्नी वर्ल्ड से जुड़ गईं हैं। बता दें कि बीते दिनों ही मेलफिसेंट का ट्रेलर सामने आया था। इस ट्रेलर को खूब पसंद किया गया। एंजेलिना की ये फिल्म 2014 में आई मेलफिसेंट का सीक्वल है। इस फिल्म में एंजिलिना के साथ फिल्म में एली फैनिंग, सेम रिले, इमेल्डा स्टॉन्टन, जूना टेम्पल, लेसले मेनविले भी नजर आएंगे। फिल्म इंडिया के साथ साथ सभी देशों में 18 अक्टूबर को आ रही हैं।


अमेरिका में महिला पत्रकार को किस किया

लुईसविले। अमेरिका के शहर लुईसविले में ऐसी घटना हुई, जिसने हर किसी को हैरान कर दिया। लाइव रिपोर्टिंग कर रही Wave3 न्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर को एक शख्स ने किस कर दिया। इस हरकत के बाद महिला रिपोर्टर घबरा गई। एंकर ने उसको संभाला और किसी भी तरह बुलेटिन को सफल तरीके से ऑन एयर किया गया। इसके बाद महिला रिपोर्टर ने किस करने वाले शख्‍स की पहचान की और यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया। महिला पत्रकार ने ट्विटर पर इस घटना का वीडियो भी शेयर किया।


रिपोर्टर का नाम सारा रिवेस्ट है। उन्होंने ट्विटर पर घटना की निंदा करते हुए लिखा- '3 सेकंड का फेम मिल गया आपको।क्या होता अगर आप मुझे टच ही नहीं करते। धन्यवाद.' शख्स हंसते हुए कैमरे के सामने आता है और सारा को किस कर देता है। सारा पलटकर कहती हैं, 'यह ठीक नहीं है…


रिपोर्टर को टच और किस करने वाले शख्‍स का नाम एरिक गुडमैन है. जब उसका चेहरा दुनिया के सामने आया तो उसने रिपोर्टर को माफीनामा भेजा। लेकिन उससे पहले सारा यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज करा चुकी थीं। उन्होंने दूसरा ट्वीट करते हुए लिखा, ”जिस शख्स ने मुझे छुआ और किस किया, उसका नाम एरिक गुडमैन है। उस पर यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज कराया गया है। (26 सितंबर) उसने माफीनामा लिखा।


माफीनामें में एरिक ने लिखा, 'जहां आप रिपोर्टिंग कर रही थीं, उस वक्त मैं वहीं से बैचलर पार्टी करके निकला था। मैंने उस वक्त मजे के लिए ऐसा किया। लेकिन ये बिलकुल ठीक नहीं था। वीडियो देखने के बाद और आपका स्टेटमैंट पढ़ने के बाद मुझे लगता है कि रिपोर्टिंग की जॉब काफी कठिन होती है। मैंने बीच जॉब में आपको परेशान किया। उसके लिए मैं दिल से माफी मांगता हूँ ।


बैंकिंग सेक्टर टूटने से सेंसेक्स में गिरावट

नई दिल्ली। शेयर बाजार मंगलवार को बढ़त के साथ खुले, लेकिन दोपहर 2 बजे के बाद बैंकिंग सेक्टर टूटने से इसमें भारी गिरावट आने लगी। सुबह कारोबार की शुरुआत में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स 228 अंकों की मजबूती के साथ 38,895 पर खुला। सुबह के मुकाबले दोपहर 2.20 बजे तक सेंसेक्स में 920 अंकों की गिरावट आ चुकी थी। सोमवार के बंद आंकड़े के मुकाबले भी सेंसेक्स में करीब 690 अंकों की गिरावट आ चुकी थी।


यस बैंक सबसे निचले स्तर पर


यस बैंक के शेयर अब तक के सबसे निचले स्तर पर 29.05 रुपये पहुंच गए हैं। इसका बाजार पूंजीकरण 8,000 करोड़ रुपये से नीचे चला गया है। दिन में कारोबार के दौरान यस बैंक के शेयर 30 फीसदी तक टूट गए। आरबीएल बैंक के शेयर 20 फीसदी तक टूट गए। असल में मध्यम आकार के कॉरपोरेट के कर्जों का समाधान इस वित्त वर्ष में शुरू हुआ है जिसके लपेटे में कई बैंक आ रहे हैं। यस बैंक के बड़े स्तर पर इंडिया बुल्स को कर्ज देने की खबर से इसके शेयर कई दिन से टूट रहे हैं, हालांकि इसके सीईओ ने इन खबरों को अफवाह बताया है।


मार्केट कैप के लिहाज से यह निफ्टी बैंक का सबसे कमजोर बैंक बन गया है। 1 महीनें में इस शेयर में 31 फीसदी, 1 तिमाही में 62 फीसदी, 6 महीनें में 86 फीसदी और 1 साल में 77 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। कल इस शेयर में रिकॉर्ड चौथी सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली थी।


हीराकुंड बांध के खोले गए 14 गेट

संबलपुर। बांध नियंत्रण कक्ष से प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते चौबीस घंटे के दौरान हीराकुंड बांध के ऊपरी मुहाने पर 05.67 मिमी और निचले मुहाने पर 02.04 मिमी बारिश हुई। बारिश का यही पानी जलभंडार में प्रवेश कर रहा है। बांध के जलभंडार का जलस्तर अपने सर्वाधिक लेवल 630 फीट पर है। ऐसे में जलस्तर को नियंत्रित रखने की खातिर बांध के गेट खोलकर महानदी में पानी छोड़ा जा रहा है। शनिवार की शाम 5 बजे तक बांध के जलभंडार में प्रति सेकंड 2, 12, 618 घनफुट पानी प्रवेश कर रहा था। इतना ही पानी बांध के 14 गेट खोलकर छोड़ा जा रहा था।


गांधी जयंती पर सैकड़ों कैदी रिहा होंगे

नई दिल्ली। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर हत्या, बलात्कार और भ्रष्टाचार के अपराधों को छोड़कर छिटपुट मामलों के सैकड़ों दोषियों को रिहा किया जाएगा। अधिकारियों ने बताया कि दो अक्टूबर को करीब 600 कैदियों को रिहा किया जा सकता है। राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश की सरकारों के सहयोग से गृह मंत्रालय अंतिम सूची तैयार कर रहा है।


गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मनाने के लिए कैदियों को विशेष छूट देने की योजना के तहत अभी तक 1,424 कैदियों को राज्य एवं केंद्रशासित प्रदेशों ने रिहा किया है। इन्हें दो अक्टूबर 2018 और छह अप्रैल 2019 को दो चरणों में रिहा किया गया।


बुजुर्ग ने गोली मारकर की आत्महत्या

83 साल के बुजुर्ग ने खुद को गोली मारकर की आत्महत्या 



लखनऊ। एक 83 वर्षीय बुजुर्ग ने लाइसेंसी रिवॉल्वर से कनपटी पर गोली मारकर सुसाइड कर लिया। मामले की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा। साथ ही मामले की छानबीन में जुटी हुई है।


मामला महानगर थानाक्षेत्र का है। यहां स्थित शालीमार गैलेंट अपार्टमेंट के रहने वाले ओमप्रकाश सिंह (83) ने गुरुवार देर रात अपनी लाइसेंसी रिवॉल्वर से कनपटी पर गोली मार जान दे दी। मृतक के बेटे अजय कुमार सिंह ने बताया कि उनकी मां चंद्रा सिंह (80) कूल्हे की हड्डी टूटने के कारण अस्पताल में भर्ती हैं। पिता ने गुरुवार को उन्हें फोन कर मां से बात कराने के लिए कहा था। उन्होंने बताई कराई, लेकिन मां से ठीक से बात नहीं हो सकी। इसको लेकर पिता डिप्रेशन में आ गए और उन्हें मां की चिंता सताने लगी। यही वजह है कि डिप्रेशन में आकर ओमप्रकाश ने देर रात लाइसेंसी रिवाल्वर से गोली मार ली।


सूचना मिलते ही मौके पर महानगर पुलिस पहुंच गई। इंस्पेक्टर महानगर अशोक कुमार सिंह ने बताया कि गुरुवार रात करीब 11 बजे के आसपास परिवार के सभी लोग अपने कमरे में लेट थे। इसके कुछ ही देर बाद उन लोगों को पिता के कमरे के बाथरूम से गोली चलने की आवाज सुनाई दी। बाथरूम में देखा कि वह खून से लथपथ पड़े थे और पास में उनकी लाइसेंसी रिवाल्वर पड़ी थी। पुलिस को कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन में लगी है।


147 करोड़ का राजस्व बकाया,भेजा जेल

गाज़ियाबाद : रेड मॉल के दो मालिक को प्रशासन ने पहुंचाया जेल, 147 करोड़ का राजस्व बकाया



गाज़ियाबाद। नए बस अड्डे के पास स्थित रेड मॉल के दो मालिकों को गिरफ्तार कर तहसील हवालात में बंद कर दिया गया है। मॉल मालिक गाजियाबाद विकास प्राधिकरण के सबसे बड़े बकायेदारों में आते हैं। इन पर 147 करोड़ रुपये का राजस्व बकाया चल रहा है।
रेड मॉल के दो डॉयरेक्टर राकेश जैन और संजीव जे एरन को हवालात में डाल दिया गया है। इन पर गाजियाबाद विकास प्राधिकरण का 147 करोड़ रुपए राजस्व बकाया था, जिसे यह नहीं दे रहे थे। अब प्रशासन द्वारा दोनों डॉयरेक्टरों को जेल भेजने की तैयारी की जा रही है। तहसीलदार सदर ने डीएम के आदेश के बाद यह कार्यवाही की है। इससे पहले भी रेड मॉल के कार्यालय को सील कर दिया था।
बीते 2017 में इसी तरह की कार्यवाही मॉल के खिलाफ की गयी थी, जिसके बाद करीब 40 करोड़ की रकम मालिकों द्वारा जमा करा दी गयी थी, जबकि बाकी बकाया रकम भी जल्द जमा कराने का वादा मॉल मालिकों द्वारा किया गया था। इसके बाद 2018 में मॉल की सील खोली गई थी, लेकिन बकाया रकम को एक साल बीतने के बाद भी नहीं चुकाए जाने पर अब मालिकों के खिलाफ कार्यवाही की गई है।


बागपत पुलिस ने गौ तस्करों से लिया लोहा

सराहनीय कार्य जनपद बागपत


गोपी चंद सैनी
बागपत। थाना कोतवाली बागपत पुलिस की गौ तस्करों से मुठभेड़, 02 गौ तस्कार घायल सहित 03 गिरफ्तार, कब्जे से 02 तमंचे 315 बोर मय 08 जिंदा व 02 खोखा कारतूस, 01 खोखा कारतूस 9एमएम, एक होंडा सिटी कार, एक गंडासा, एक छुरा, गाड़ी की डिक्की से एक गौंवश (बछड़ा जिंदा), एक सीरिज एवं एक इंजेक्शन की शीशी नाजायज बरामद।
थाना कोतवाली बागपत पुलिस द्वारा की गई कार्यवाही के दौरान आज दिनांक 29/30.09.19 की रात्री समय करीब 01:30 बजे रेलवे लाइन के पास जंगल ग्राम अहैडा में गौ तस्करों से मुठभेड़ हुई। गौ तस्करों ने पुलिस को देखते ही फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस द्वारा की गई आत्मरक्षार्थ फायरिंग में 02 गौ तस्कर गोली लगने से घायल हो गया। घायल/गिरफ्तार गौ तस्कर 1-इमरान उर्फ चरसी पुत्र अब्दुल रहमान निवासी सुंदर नगरी के-ब्लॉक मकान नंबर-124 थाना नंदनगरी दिल्ली 2-आसू उर्फ गंजा पुत्र हुसना निवासी मोहल्ला जवाहर पार्क मकान नंबर-ए-283 सीमापुरी थाना साहिबाबाद जनपद गाजियाबाद 3-सरफराज उर्फ शेर मोहम्मद पुत्र इलमदीन निवासी सवाखेडी थाना बड़ौत जनपद बागपत हाल निवासी मकान नंबर-एफ-16 मार्केट पुरानी सीमापुरी शाहदरा दिल्ली को दौराने मुठभेड़ गिरफ्तार किया गया। मुठभेड़ में गौ तस्करों से 02 तमंचे 315 बोर मय 08 जिंदा व 02 खोखा कारतूस, 01 खोखा कारतूस 9एमएम, एक होंडा सिटी कार नम्बर-डीएल-7जे-1134, एक गंडासा, एक छुरा, गाड़ी की डिक्की से एक गौंवश (बछड़ा जिंदा), एक सीरिज एवं एक इंजेक्शन की शीशी नाजायज बरामद की गई। घायल गौ तस्करों को उपचार हेतू सीएचसी बागपत ले जाया गया। उक्त बदमाश शातिर अपराधी है। अभियुक्तों ने थाना कोतवाली बागपत क्षेत्र मे गौवंश कटान करना स्वीकार किया है। अभियुक्तों के विरूद्ध अन्य जनपदों से मुकदमों की जानकारी की जा रही है। उक्त बदमाशों के 03 साथी मुठभेड़ के दौरान फरार हो गए, जिनकी गिरफ्तारी हेतु प्रयास जारी है।
अभियुक्तगण आवारा गौवंशो को नशे का इंजेक्शन लगाकर जंगल में ले जाकर काटकर उनके मांस को दिल्ली वह आस-पास के जनपदों में बेचते हैं। अभियुक्तों के विरूद्व थाना कोतवाली बागपत पर आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है।
​*अभियुक्तो(गौ तस्कर) का नाम व पता-*
1-इमरान उर्फ चरसी पुत्र अब्दुल रहमान निवासी सुंदर नगरी के-ब्लॉक मकान नंबर-124 थाना नंदनगरी दिल्ली।
2- आसू उर्फ गंजा पुत्र हुसना निवासी मोहल्ला जवाहर पार्क मकान नंबर-ए-283 सीमापुरी थाना साहिबाबाद जनपद गाजियाबाद।
3- सरफराज उर्फ शेर मोहम्मद पुत्र इलमदीन निवासी सवाखेडी थाना बड़ौत जनपद बागपत हाल निवासी मकान नंबर-एफ-16 मार्केट पुरानी सीमापुरी शाहदरा दिल्ली।
*बरामदगी-*
1-दो तमंचे 315 बोर मय 08 जिंदा व 02 खोखा कारतूस, 01 खोखा कारतूस 9एमएम।
2-एक होंडा सिटी कार नम्बर-डीएल-7जे-1134
3-एक गंडासा।
4-एक छुरा।
5-गाड़ी की डिक्की से एक गौंवश (बछड़ा जिंदा)।
6-एक सीरिज व एक इंजेक्शन की शीशी।
*अपराधिक इतिहास अभियुक्तगण-*
1-मु0अ0सं0 535/19 धारा 3/5/8 गौवध अधिनियम थाना कोतवाली बागपत जनपद बागपत।
2-मु0अ0सं0 675/19 धारा 3/5/8 गौवध अधिनियम थाना कोतवाली बागपत जनपद बागपत।
3-मु0अ0सं0 723/19 धारा 3/5/8 गौवध अधिनियम थाना कोतवाली बागपत जनपद बागपत।
4-मु0अ0सं0 805/19 धारा 147, 148, 149, 307 भादवि थाना कोतवाली बागपत जनपद बागपत।
5- मु0अ0सं0 806/19 धारा 3/5ए/8 गौवध अधिनियम व 3/11 पशु क्रुरता निवारण अधि0 थाना कोतवाली बागपत जनपद बागपत।
6-मु0अ0सं0 807/19 धारा 3/25/27 आर्म्स एक्ट थाना कोतवाली बागपत जनपद बागपत।
7-मु0अ0सं0 808/19 धारा 3/25/27 आर्म्स एक्ट थाना कोतवाली बागपत जनपद बागपत।


चोरी का माल,नगदी सहित 3 गिरफ्तार

पचास हजार की नकदी सहित तीन शातिर चोर गिरफ्तार,चोरी का माल बरामद


गाजियाबाद। थाना साहिबाबाद श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय के द्वारा अपराध नियंत्रण हेतु दिए गए निर्देशो के अनुपालन में साहिबाबाद थाना प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र कुमार के नेतृत्व में उनि अरविंद चौधरी ने मय टीम के साथ फ्लेट,मकानों में चोरी करने वाले तीन शातिर चोरो को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। अभियुक्तो की निशानदेही पर पूर्व में चोरी की घटना के 50000 हजार रुपये,,मेडिकल इंटमेंट 2 साउंड बॉक्स,,घटनाओ में प्रयुक्त एक हौंडा सिटी कार सहित दो चाकू बरामद हुए है। पुलिस आरोपियों का आपराधिक इतिहास खंगालने में जुटी है। फिलहाल कागजी कार्रवाई कर अभियुक्तो को जेल भेजा जा रहा है।


बाढ़ पर पीएम गंभीर,सहायता को तैयार

नई दिल्ली। पटना बिहार में बाढ़ व जल-जमाव की स्थिति पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंभीर हैं। उन्‍होंने इस बाबत मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से बात की है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है।


पीएम ने कहा- केंद्र हर संभव सहायता देने को तैयार


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा है कि उन्‍होंने बिहार में बाढ़ की स्थिति को लेकर नीतीश कुमार से बात की है। विभिन्‍न एजेंसियां स्‍थानीय प्रशासन के साथ मिलकर प्रभावित लोगों की मदद कर रहीं हैं। इसमें केंद्र सरकार सभी संभव सहायता देने को तैयार है।


बिहार में बाढ़ व जल-जमाव के हालात


विदित हाे कि बिहार में भारी बारिश के कारण इन दिनों बाढ़ व जल-जमाव के हालात हैं। पूरे राज्‍य में ऐसी ही स्थिति है। खासकर पटना में जल-जमाव के कारण हालात बदतर हैं।


फरक्‍का बराज के फाटक खाेले, जल-निकासी तेज


केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने बताया कि केंद्र सरकार की पहल पर फरक्‍का बराज के सभी फाटक खोल दिए गए हैं, जिससे बिहार में गंगा नदी का जल-स्‍तर घटेगा। साथ ही पटना सहित जगह-जगह जल निकासी तेज कर दी गई है।


वायुसेना के हेलीकॉप्‍टर गिरा रहे फूड पैकेट्स


पटना में जल-जमाव प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों को निकाला जा रहा है। साथ ही वायुसेना के हेलीकॉप्‍टर की मदद से फूड पैकेट्स गिराए जा रहे हैं।


75 पार के नारे में अड़चनें पैदा करते विद्रोही

राणा ओबराय

हरियाणा में भाजपा के 75 पार के नारे में अड़चनें पैदा कर सकते हैं यह विद्रोही भाजपा नेता

चण्डीगढ़। भाजपा पार्टी से टिकट की उम्मीद लगाए बैठे वरिष्ठ नेताओं को अपनी अनदेखी हजम नहीं हो रही है। इसलिए हो सकता है यह बगावत पर उतर आए और यह नेता भाजपा पार्टी के नारे इस बार 75 पार के बीच पार्टी छोड़कर रोड़ा ना बन जाए तथा भाजपा उम्मीदवारों को हराने का काम ना करें। इसलिए भाजपा आलाकमान को तुरंत इन रूठे हुए कार्यकर्ताओं को मनाना चाहिए।


1. गन्नौर:कल बीजेपी को छोड़ सकते हैं देवेंद्र कादयान.
2.कैथल:भाजपा में टिकट वितरण के बाद भाजपा नेता पाला राम सैनी & कैलाश भगत छोड सकते है बीजेपी.
3.चरखी दादरी :2014 में भाजपा की टिकट से चुनाव लडऩे वाले सोमबीर सांगवान कल छोड़ सकते,
बबीता फौगाट को टिकट देने पर सोमबीर ने समर्थकों के साथ कल दोपहर 12 बजे पार्टी कार्यकर्ताओं की मीटिंग बुलाई।
4. पृथला:नयनपाल रावत ने बुलाई अपने समर्थकों की बैठक, कल बीजेपी छोड सकते हैं।
5.समालखा :मौजूदा विधायक रविन्द्र का टिकट कटने के बाद विरोध मुखर,कल कई गांवों के लोग मिलकर ले सकते हैं कोई बड़ा फैसला।
6. हांसी:2014 मैं बीजेपी की टिकट पर चुनाव लडऩे वाले छतरपाल कल ले सकते है बडा फेसला।


डासना में राम-रावण,सीता जन्म का मचंन

डासना में राम-रावण,सीता के जन्म का मंचनl
 
गाजियाबाद,डासना। आदर्श रामलीला समिति डासना द्वारा प्रायोजित रामलीला मंचन के माध्यम से दुर्गा देवी मंदिर पर मथुरा से आए कलाकारों द्वारा रामायण राम और सीता  जन्मदिन का मंचन किया गयाl 
जिसे देखने के लिए बड़ी तादाद में डासना और आसपास के क्षेत्रों से आई जनता ने भरपूर आनंद लियाl मंचन के दौरान अनेकों बार मथुरा साइन कलाकारों ने जमकर तालियां बजवाने और राम रावण सीता जन्म के मंचन की सराहना करने के लिए दर्शकों को मजबूर कर दियाl याद रहे गाजियाबाद और पिलखुआ के केवल डासना ही एक ऐसा कस्बा है बीच एक ऐसा कस्बा है जहां हर साल रामलीला का मंचन होता हैl जिसे देखने के लिए हजारों की तादाद और संख्या में लोग यहां पहुंचकर रामलीला का मंचन देख पाते हैं। रामलीला मंचन को सफल बनाने के लिए रामलीला कमेटी के लोगों के साथ साथ स्थानीय जनता भी इसमें अपनी तरफ से पूरा सहयोग करती है।
राम रावण सीता जन्म मंचन के दौरान सुनील गोयल अध्यक्ष आदर्श रामलीला समिति डासना, राकेश जैन पूर्व अध्यक्ष , राजीव शर्मा कोषाध्यक्ष आदि उपस्थित रहे।


मोहम्मद अहमद तेली


बेटा पैदा करने के लिए भेजते थे विदेश

'बेटा' पैदा कराने के लिए महिलाओं को भेजते थे विदेश


नई दिल्ली। पुलिस और केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग की टीम ने राजधानी दिल्ली में एक बड़े रैकेट का भंडाफोड़ किया है। दिल्ली पुलिस के अनुसार दिल्ली में बीते लंबे समय से एक ऐसा गिरोह सक्रिय था जो महिला को बेटा पैदा करने के लिए विदेश भेजता था। इस रैकेट के जानकारी मिलते ही दिल्ली पुलिस और केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीम ने करोल बाग इलाके में छापेमारी की।


पुलिस की शुरुआती जांच में पता चला है कि आरोपी महिलाओं तक पहुंचने के लिए कॉलसेंटर भी चलाते थे। इस काम के लिए प्रत्येक महिला से 9 लाख रुपये लिया जाता था। इस गिरोह के संपर्क में वही महिलाएं आती थीं जिन्हें लड़के की चाह होती थी। गिरोह के सदस्य इन महिलाओं को दुबई, सिंगापुर और थाईलैंड जैसे देश भेजते थे।


पुलिस अधिकारियों के अनुसार उन्हें इस रैकेट की जानकारी कीर्ति नगर में आईवीएफ सेंटर पर की गई छापेमारी के दौरान मिली थी। इसके बाद ही करोल बाग में छापेमारी की गई। पुलिस के अनुसार अभी तक की जांच के अनुसार देश भर में इस तरह के 100 आईवीएफ सेंटर चलाने जाने की बात सामने आई है। दिल्ली में ऐसे कॉलसेंटर बीते दो साल से सक्रिय थे। जिस कॉलसेंटर पर छापेमारी की गई है वहां का मालिक आईआईटी इंजीनियर है। इस कॉलसेंटर में करीब 300 लोग काम करते थे। पुलिस फिलहाल इस पूरे मामले की जांच कर रही है।


दर्शन को गए ननकाना साहिब पाकिस्तान

महराजगंज,रायबरेली। सिक्खों के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल एव पहले गुरु गुरु नानक देव के पवित्र जन्म स्थल का दर्शन करने ननकाना साहिब पाकिस्तान जा रहे कस्बे के गांधीनगर निवासी सरदार समरजीत सिंह को लोगो ने भावभीनी विदाई दी।इस दौरान लोगो ने फूल माला व ढोल नगाड़ों से उत्सव मना खुशी व्यक्त की। बताते चले लाहौर से 80 किमी दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। इस शहर मे गुरू नानक देव का जन्म हुआ व इन्हीं के नाम पर यह शहर जाना जाता है। इस दौरान सरदार फतेह सिंह, अजीत सिंह, महेंद्र सिंह, तरजीत उर्फ काके सिंह , प्रिन्कल सिंह, प्रीत पाल सिंह,अमनदीप सिंह, अमरीक सिंह, निर्मल कौर, मुस्कान सहित दर्जनो सिक्ख परिवार मौजूद रहे।


नेता जी ने कांग्रेस से भर दिया पर्चा

राणा ओबराय


रोहतक,महम। हरियाणा विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है। ज्यादातर पार्टियां अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर चुकी हैं लेकिन कुछ पार्टियों ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा तक नहीं की है। इनमें कांग्रेस भी शामिल है। कांग्रेस ने अभी तक एक भी सीट पर टिकट की घोषणा नहीं की है। लेकिन इधर महम से कांग्रेस पार्टी के मौजूदा विधायक आनंद सिंह दांगी ने चुनाव के लिए नामांकन दाखिल कर दिया।
अभी तक टिकट मिला नहीं, नेताजी ने कांग्रेस से भर दिया नामांकन
हालांकि कांग्रेस पार्टी की तरफ से अभी तक टिकटों की घोषणा नहीं की गई है, लेकिन पार्टी हाईकमान इस बात को स्पष्ट कर चुका है कि सीटिंग विधायकों की टिकट नहीं कटेगी और फिर से उन्हें चुनाव लड़ाया जाएगा। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आनंद सिंह दांगी ने महम सीट से अपना नामांकन पत्र दाखिल कर दिया। अभी यह नामांकन एक निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर माना जाएगा। कांग्रेस द्वारा प्रत्याशी घोषित होने के बाद लेटर जमा रिटर्निंग अधिकारी के पास जमा करना होगा और फिर बाद में प्रत्याशी कांग्रेस का माना जाएगा।


शामली एसएसपी को अपराधियों में खौफ

कप्तान अजय कुमार पांडेय का अपराधियों में बढ़ता खौफ़


तस्लीम बेनकाब
शामली। यूपी में योगी सरकार के गठन के बाद से एक के बाद एक ताबड़तोड़ मुठभेड़ का दौर लगातार जारी है। लगातार हो रहे मुठभेड़ के जरिए पुलिस ने अपराधियों के जेहन में खौफ भर दिया है। इस मुठभेड़ शैली को लेकर भले ही योगी सरकार विपक्षी पार्टियों के निशाने पर हो और सरकार पर तमाम तरह के आरोप लगाए जा रहे हो, लेकिन हकीकत यह है कि यूपी पुलिस के इस एक्शन मोड से आम लोग राहत की सांस जरूर लेते हुए नजर आ रहे हैं। इसी क्रम में कुछ समय पूर्व भी यूपी पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया था, जिसमें कहा गया है कि पुलिस से नहीं क्राइम से डर लगता है साहब। आपको बता दें कि फिल्म दबंग में इसी तरह का डायलॉग सोनाक्षी सिन्हा ने बोला था।
दरअसल यूपी पुलिस की कार्रवाई से डरे अपराधी एक बार फिर गुहार लगाते दिख रहे हैं कि उन्हें गिरफ्तार कर लो, या जेल से आकर अपनी जीवन की भीख मांग रहें तथा पुलिस अधिकारियों से कसम खाते नजर आ रहें है कि भविष्य में कोई अपराध नही करेंगे तथा अपने बच्चो का ईमानदारी से कमाकर उनका पालन पोषण करेंगे ऐसा ही मामला शामली में देखने को मिला ज़ह एक बदमाश शामली कप्तान के सामने गिड़गिड़ाता नजर आया तो वही इन अपराधियों को डर है कि कहीं उनका एनकाउंटर न हो जाए। यूपी पुलिस का यह ट्वीट उस समय आया था जब तेजतर्रार व बेहतरीन कार्यशैली से बदमाशो का सफाया कर रहें *पूर्व में रहें शामली कप्तान  डॉक्टर अजयपाल शर्मा के डर से शामली क्षेत्र के कैराना में दो अपराधी हाथों में तख्ती लिए हुए सामने आये थे जिसमें लिखा था कि वह खुद में सुधार लाएंगे और फिर कभी अपराध नहीं करेंगे। वह मेहनत करके पैसे कमाएंगे।*


 तख्ती को हाथ में पकड़े इन अपराधियों का नाम सलीम अली और इरशाद अहमद था जिन पर लूट और मर्डर के कई मामले दर्ज थे। सलीम ने कहा था कि वह नहीं चाहते कि उनका भी दूसरे अपराधियों की तरह एनकाउंटर हो जाए। मैं अपने परिवार के साथ शांति से जीना चाहता हूं। तो वहीं अब शामली के कप्तान अजय कुमार पांडये के क्रोध से बचने के लिए एस पी के समक्ष शातिर बदमाश खुद ब खुद चलकर आते है और अपराध से करते है तोबा तथा भविष्य में अपराध ना करने की कसम खाई तो वही शामली एस पी ने कैराना थाने को निर्देश दिए और उक्त युवक आमिल खा पर नजर रखने सम्बंधित जरुरी दिशा निर्देश जारी किये हैं।
बता दें की शामली कप्तान अजय कुमार ने बदमाशों के खिलाफ पुलिस धर पकड़,और एनकाउंटर अभियान छेड़े हुए है, ऑपरेशन क्रैकडाउन, चक्रव्यूह व ऑपरेशन कुण्डली चला रखा हैं जिससे बदमाशों पर ख़ौफ पैदा हुआ है इसलिए बदमाश शामली पुलिस के आगे नमस्तक होते दिखाई दे रहे हैं और कर रहे है अपराध से तोबा मांगते हैं वास्तव में इसे शामली जिले के पुलिस कप्तान की सख्ती कहें, रणनीति कहें या कहें दरिया दिली जो खुद बदमाश उनके समक्ष हाजिर होकर कर कह रहे हैं कि अपराध से तोबा। अभी हाल ही में कई साल जेल में रहकर आये एक बदमाश आमिल खा पुत्र जमशेद खा निवासी कैराना ने पुलिस अधीक्षक शामली के समक्ष पहुंचा और  अपनी जान की गुहार लगाते हुए जान बख्शने की बात कही की वह भविष्य में कोई गलत काम नही करेंगा। इससे यही महसूस होता हैं कि शामली कप्तान अजय कुमार पांडये की बेहतरीन पुलिसिंग से बदमाशो के होश उड़े हुए हैं।


अपराधियों का टूटा मनोबल,जनता का जीता दिल

एसएसपी अभिषेक यादव के कुशल निर्देशन में खतौली एवं थाना मंसूरपुर पुलिस ने अपराधियों का तोड़ा मनोबल तो जनता का जीता दिल


तस्लीम बेनकाब


मुजफ्फरनगर। खतौली सर्किल के तहत यदि अपराध समीक्षा की बात करें तो काफी समय से इस सर्किल में पुलिस क्षेत्राधिकारी आशीष प्रताप सिंह के कुशल निर्देशन में बेहतरीन पुलिसिंग का उदाहरण देखने को मिला है जबकि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव व पुलिस अधीक्षक नगर सतपाल आंतिल के मार्ग निर्देशन में पुलिस ने अच्छा काम करने में कहीं कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी है सर्वप्रथम यदि हम इस सर्किल के थाना खतौली की बात करें तो यहां पर संतोष कुमार त्यागी के समय में अच्छी पुलिसिंग देखने को मिली है त्यागी जनपद में कई स्थानों में अपनी सराहनीय सेवाएं दे चुके हैं अब खतौली में भी इन्होंने तैनाती के बाद से अच्छा काम करने का प्रयास किया है ओर अच्छे काम उनके द्वारा पुलिस टीम ने दिए है सबसे बड़ी विशेषता यह है कि तीव्र भावना के साथ पुलिस अपराधियों पर भारी पड़ती हुई नजर आई है दूसरा खतौली थाना क्षेत्र के अंतर्गत यदि कोई घटना गठित हुई है तो उसे पुलिस ने तुरंत ही खोल कर यह साबित किया है कि घटना को कम समय मे उसको खोलने को लेकर तत्पर एवं आतुर है हालहि में कोई भी ऐसी बड़ी घटना या मामला नहीं हुआ है जो पुलिस के लिए सिरदर्द बन सके जो कोई छोटी घटना हुई उसको तत्काल वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मार्ग निर्देशन में खोला गया तो वहीं कई बदमाशों को लंगड़ा कर जेल की हवा भी थाना प्रभारी खतौली संतोष कुमार त्यागी व उनकी टीम के द्वारा अंजाम दिए गए हैं त्यागी की कार्य प्रणाली से आमजन में काफी संतोष है तो वहीं दूसरी ओर मंसूरपुर थाना क्षेत्र की बात करें तो बहुत ही सुलझे हुए महंती जुझारू मनोज कुमार चाहल को तैनाती दी गई है मनोज चाहल यहां से पूर्व कई चुनौतीपूर्ण कार्य सकुशल ढंग से संपन्न करा चुके हैं इनमें कावड़ मेला यात्रा चुनाव आदि की जिम्मेदारी उनके कंधों पर रही जिसको उन्होंने बखूबी निभाया एसएसआई चरथावल रहते हुए कई अच्छे कारनामों को अंजाम दिया तो वही खालापार चैकी इंचार्ज रहते हुए इन्होंने उत्कृष्ट सेवाएं प्रदान की व्यवहार कुशल के धनी मनोज चाहल मेहनत एवं जज्बे के साथ अपनी सेवाएं प्रदान करते हैं जब से उन्होंने मंसूरपुर की कमान संभाली है अपराधियों पर हर लिहाज से भारी पड़ रहे हैं जनता के साथ पुलिस का व्यवहार बहुत अच्छा हुआ है क्योंकि मनोज चाहल खुद बहुत व्यावहारिक हैं तथा वहीं अपराधियों पर इन्होंने पूरी तरह नकेल कस कर रखी है तथा कई शातिर बदमाशों को पुलिस मुठभेड़ में सबक भी सिखाया जा चुका है तथा सिखाते आ रहे हैं कुल मिलाकर मंसूरपुर एवं खतौली सर्किल में बहुत अच्छे ढंग से काम हो रहे हैं तथा पुलिस अपने एवं कर्तव्यों को बखूबी निभा रही है अपने युवा कप्तान अभिषेक यादव के मार्ग निर्देशन में हर रोज पुलिस कुछ ना कुछ नया और बेहतर करने का प्रयास कर रही है।


श्रमिक संगठनों की देशव्यापी हड़ताल

नई दिल्ली। केन्द्रीय श्रमिक संगठनों तथा अन्य स्वतंत्र फेडरेशन, एसोसिएशन और यूनियन द्वारा आयोजित मजदूरों के खुले राष्ट्रीय महाअधिवेशन ने केंद्र सरकार की श्रमिक विरोधी, जन विरोधी तथा देश विरोधी नीतियों के विरोध में आगामी 8 जनवरी 20 को देशव्यापी आम हड़ताल का ऐलान किया है ।


इस अवसर पर पर राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अशोक सिंह ने कहा कि यह सरकार मजदूर विरोधी है और मजदूरों ,आंगनवाड़ी रोजगार सेवक, संविदा कर्मी का शोषण एवं उत्पीड़न कर रही है । उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था मंदी के संकट में फस रही है ।इसका बुरा असर असंगठित और संगठित क्षेत्र के मजदूरों की छटनी और बंद के रूप में हो रहा है। आज सरकारी कार्यालयों में संविदा कर्मिंयों से कम वेतन पर कार्य कराया जा रहा है। श्री सिंह ने कहा प्रोग्राम में हमारे प्रधान मंत्री को अमेरिका के राष्ट्रपति ने एक घंटा इंतजार करवाया और वहां के मेयर ने कि भारत महात्मा गांधी व जवाहर लाल नेहरू की नीतियों से आगे बढ़ा है उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार न केवल कामकाजी जनता की वास्तविक मांगों पर काम करने में विफल रही है, बल्कि अपने काॅरपोरेट आकाओं के हित में मजदूरों के अधिकारों के खिलाफ अपनी आक्रामकता को जारी रखा है। श्रमिकों के राष्ट्रीय खुला अधिवेशन में इंटक, एटक, एच एम एस, सीटू, एआइयूटीयूसी, टीयूसीसी, सेवा, एआइसीसीटीयू, एलपीएफ यूटीयूसी के वक्ताओं ने जम कर सरकार के विरुद्ध मोर्चा खोला और आगामी 8 जनवरी को देश व्यापी हड़ताल का ऐलान किया ।


इस अवसर पर राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस इंटक के दिल्ली प्रदेश के सैक्ट्री ऋषि पाल सिंह, उत्तर प्रदेश के प्रवक्ता सुरेश शर्मा, युवा इंटक उत्तर प्रदेश के महासचिव आशीष शर्मा, गाजियाबाद के जिला अध्यक्ष अशोक कुमार सिंह, महामंत्री यशपाल सिंह, शिवसागर पांडेय,शिखर शर्मा, सहित उत्तर प्रदेश के मजदूरों ने भारी संख्या में भाग लिया।


एलपीजी गैस सिलेंडर हुआ महगां

नई दिल्ली। अक्टूबर महीना शुरू होते ही जनता पर महंगाई की मार पड़ी है। एक अक्तूबर यानि आज से रसोई गैस सिलेंडर की कीमत में बढ़ोतरी हो गई है। लगातार दूसरे महीने रसोई गैस के दाम में इजाफा हुआ है, जिससे आम आदमी को झटका लगा है। देश के प्रमुख महानगरों में बिना-सब्सिडी वाला गैस सिलेंडर करीब 15 रुपए महंगा हुआ है।


गैस सिलेंडर की नई कीमतें


आज से दिल्ली में 14.2 किलो के बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर के लिए आपको 605 रुपए चुकाने होंगे। कोलकाता में इसका दाम 630 रुपए है। वहीं मुंबई और चेन्नई में 14.2 किलो के बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर का दाम क्रमश: 574.50 और 620 रुपए है। वहीं, 19 किलोग्राम सिलेंडर की कीमत दिल्ली में 1085 रुपए हो गई है। कोलकाता में 1139.50 रुपए, मुंबई में 1032.50 रुपए और चेन्नई में इसका दाम 1199 रुपए है।


महाराष्ट्र भाजपा के प्रत्याशियों की लिस्ट

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावः बीजेपी ने जारी की 125 प्रत्याशियों की पहली सूची


मुबंई। महाराष्ट्र में आगामी विधानसभा चुनावों को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने आखिर लंबे समय से चल रही खींचतान को खत्म करते हुए अपनी पहली लिस्ट जारी की। इस लिस्ट में 125 सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान किया गया है। गौरतलब है कि महाराष्ट्र में कुल 288 विधानसभा सीटें हैं।सूबे के सीएम देवेंद्र फडणवीस नागपुर दक्षिण-पश्चिम से चुनाव लड़ने जा रहे हैं। वहीं उदयराजन भोसले सतारा से चुनाव लड़ेंगे। जानकारी के अनुसार 52 सिटिंग विधायकों को टिकट दिया गया है। इस संबंध में बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी। वहीं सतारा लोकसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव के लिए भी प्रत्याशी घोषित कर दिया है। इस सीट से छत्रपति शिवाजी के वंशज उदयन भोसले को मैदान में उतारा गया है। इस दौरान अरुण सिंह ने घोषणा की कि पार्टी शिवसेना सहित अपने चार सहयोगियों के साथ विधानसभा चुनाव लड़ेगी।


जारी की गई सूची के अनुसार बीजेपी महाराष्ट्र के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल कोठरुद से चुनावों में अपना भाग्य आजमाएंगे। वहीं राज्य की ग्रामीण विकास मंत्री पंकजा मुंडे पार्ली से चुनाव मैदान में उतर रही हैं। हाल ही में कांग्रेस छोड़ कर बीजेपी में आए राधाकृष्‍ण विखे पाटिल को शिरडी से टिकट दिया गया है।मंत्री गिरीश महाजन जामनेर से चुनाव लड़ेंगे। सतारा विधानसभा से शिवेंद्र सिंह जो कि छत्रपति शिवाजी के वंशज हैं वे चुनाव में अपना भाग्य आजमाएंगे। मुक्ता तिलक जो लोकमान्य गंगाधर तिलक के परिवार की बहू हैं वह कस्बा पेट सीट से चुनाव लड़ेंगी। इसी क्रम में अतुल भोसले को कराड़ दक्षिण सीट से मैदान में हैं।


अरुण सिंह ने बताया कि विधानसभा चुनाव 2019 के लिए बीजेपी ने 12 सीटों पर प्रत्याशियों को बदल दिया है। जब उनसे पूछा गया कि क्या इनका टिकट कट गया है तो अरुण ने जवाब दिया कि आप ऐसा सोच सकते हैं। गौरतलब है कि पहली लिस्ट में मंत्री विनोद तावड़े, पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे के नाम नहीं है।


हनी ट्रैप: तीस करोड़ की वीडियो

भोपाल। मध्यप्रदेश के हनीट्रैप कांड के आरोप में पकड़ी गईं महिलाओं में से दो ने लोकसभा चुनाव के दौरान कई बड़े नेताओं के युवतियों के साथ अंतरंग संबंध वाले वीडियो 30 करोड़ रुपये में बेचने की कोशिश की थी। इस मामले में लेन-देन को लेकर कुछ नेताओं से इन महिलाओं की कई दौर की बातचीत भी हुई थी। सूत्रों का कहना है कि राज्य में विधानसभा चुनाव के बाद सत्ता बदलने पर इन महिलाओं का नई सरकार में दखल कम हो चला था, लिहाजा इन महिलाओं ने सरकार से जुड़े दल कांग्रेस के कई नेताओं और दूसरी ओर विपक्षी दल भाजपा के नेताओं से संपर्क बनाए रखा था। इन महिलाओं ने दोनों दलों के कई नेताओं के वीडियो होने का दावा करते हुए मनचाही रकम मांगी, जब बात नहीं बनी तो उन्होंने नेताओं से व्यक्तिगत संपर्क किया। भोपाल के एक नेता का वीडियो भी इन महिलाओं ने बनाया था और उस वीडियो के आधार पर भाजपा और कांग्रेस, दोनों ही दलों के नेताओं से उसका सौदा करना चाहा था। सूत्र बताते हैं कि एक राजनीतिक दल के नेता कई वीडियो छह करोड़ रुपये में खरीदने को राजी भी हो गए, मगर महिलाएं और उनके करीबी लोग 30 करोड़ रुपये से कम पर थोक वीडियो बेचने को तैयार नहीं हुए। सूत्रों का कहना है कि इन महिलाओं को इस बात का गुमान था कि राजनीतिक दलों से जुड़े लोग उनके वीडियो मनचाही कीमत में खरीद लेंगे, क्योंकि इनके जरिए दूसरे दल के नेताओं की छवि को प्रभावित किया जा सकता था। लेकिन मांगी गई रकम बहुत ज्यादा होने के कारण कोई भी लेने के लिए राजी नहीं हुआ। राजनीतिक दलों से जुड़े लोगों की बात पर भरोसा करें तो चुनाव के दौरान इन महिलाओं का वीडियो का सौदा नहीं हो पाया। उसके बाद इन महिलाओं ने सीधे संबंधित नेताओं से संपर्क बनाकर छोट-मोटी रकम ऐंठी। वहीं चुनाव के बाद पुलिस विभाग और सरकार के लेागों ने इन पर नजर रखना शुरू कर दिया, क्योंकि इन महिलाओं के पास कई बड़े लोगों के वीडियो होने की बात सामने आ चुकी थी। नगर निगम के इंजीनियर हरभजन सिंह की शिकायत पर पुलिस अब तक पांच महिलाओं और एक पुरुष को गिरफ्तार कर चुकी है। इस मामले की जांच के लिए एसआईटी (विशेष जांच टीम) का गठन किया जा चुका है। एसआईटी के सूत्रों का कहना है कि पकड़ी गई महिलाओं के मोबाइल, लैपटॉप और पेनड्राइव से बड़ी संख्या में वीडियो क्लिपिंग मिली हैं। एसआईटी को क्लिपिंग की चार हजार से ज्यादा फाइलें हाथ लगी हैं और कई तस्वीरें व ऑडियो क्लिपिंग भी बरामद हुई हैं। आरोपी महिलाओं ने पूछताछ में कई नेताओं और अफसरों के नामों का भी खुलासा किया है। एसआईटी फिलहाल कुछ भी बताने से बच रही है।


पाक ने किया सीजफायर उल्लंघन

नई दिल्ली। पाकिस्तान ने मंगलवार को जम्मू एवं कश्मीर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास संघर्ष विराम का उल्लंघन किया, जिसका भारतीय सेना ने भी माकूल जवाब दिया। रक्षा सूत्रों ने यह जानकारी दी। संघर्ष विराम उल्लंघन पूंछ जिले के शाहपुर और किरणी सेक्टर में किया गया। पाकिस्तानी गोलीबारी में बीएसएफ का एक जवान घायल हो गया है। सेना के एक अधिकारी ने कहा, पाकिस्तान की तरफ से सुबह 7.45 बजे बिना उकसावे के छोटे हथियारों और मोर्टार से हमला किया गया। भारतीय सेना ने भी गोलीबारी का जवाब दिया। वहीं कठुआ के मनयारी पोस्ट में रात में हुई पाकिस्तानी फायरिंग में बीएसएफ का एक जवान जख्मी हो गया। इससे पहले सोमवार को भी कठुआ जिले के हीरानगर क्षेत्र में पाकिस्तान ने संघर्ष विराम का उल्लंघन किया था। सूत्रों के अुनसार, सोमवार की गोलीबारी में सीमा सुरक्षा बल का एक जवान घायल हो गया था।


कश्मीर से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट कश्मीर से जुड़े सभी याचिकाओं को अगले महीने की 14 तारीख को सुनवाई करेगा। सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने इस मामले की सुनवाई के दौरान यह बात कही। मंगलवार को इस मामले की सुनवाई के दौरान जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने अपना जवाब दाखिल करने के लिए चार हफ्ते का समय मांगा, लेकिन याचिकाकर्ता ने केंद्र और राज्य सरकार को वक्त दिए जाने का विरोध किया। इसपर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हमे इस मामले में वक्त देना होगा। कोर्ट ने सुवनाई के दौरान कहा कि आखिर इतने अहम मामले में वक्त क्यों न दिया जाए।


गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर से संविधान के अनुच्छेद 370 और 35A को निरस्त करने वाले प्रावधान को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई के लिए संविधान पीठ का गठन हो गया था। जस्टिस एन वी रमणा की अध्यक्षता वाली पांच जजों की पीठ में जस्टिस संजय किशन कौल, जस्टिस सुभाष रेड्डी, जस्टिस बी आर गवई और जस्टिस सूर्यकांत होंगे। कहा गया था कि बेंच एक अक्टूबर से जम्मू कश्मीर के प्रशासनिक बदलाव को चुनौती देने वाली कई याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। एक अक्टूबर से सुप्रीम कोर्ट में दो संविधान पीठ दो महत्वपूर्ण मामलों की सुनवाई करेंगे। पहले ही एक संविधान पीठ अयोध्या मामले की सुनवाई कर रहा है।


10 हजार किसानों का 'रेल रोको आंदोलन'

भुवनेश्वर। ओडिशा के लगभग 10 हजार किसानों ने चक्रधरपुर रेल डिवीजन के बामड़ा स्टेशन में 4 घंटे तक रेल रोको आंदोलन किया। इससे छत्तीसगढ़ के रायगढ़ स्टेशन पर इस रूट से गुजरने वाली ट्रेनों के पहिए थमे रहे। किसान अपनी तीन सूत्रीय मांग को लेकर केंद्र और राज्य सरकारों के विरुद्ध आंदोलन कर रहे थे। आंदोलन के कारण यात्री परेशान हुए। यात्री चार घंटों तक जरुरी खाने-पीने की चीजों और दवाओं के लिए परेशान होते रहे।


पश्चिम ओडिशा कृषक सुरक्षा समन्वय समिति के इस रेल रोको आंदोलन में 3 सूत्रीय मांगों को लेकर प्रदर्शन किया गया। आंदोलन के कारण ट्रेनों को रायगढ़ से बिलासपुर और बामड़ा से राउरकेला के बीच रोककर रखा गया। टाटा इतवारी पैसेंजर रायगढ़ के तीन नंबर प्लेटफार्म पर खड़ी रही। प्लेटफार्म पर बैठे यात्रियों को आंदोलन की जानकारी दी जा रही थी। जो ट्रेने इस आंदोलन के चलते प्रभावित रहीं उनमें मुंबई-हावड़ा-दुरंतो रायगढ़ में दो घंटे, साउथ बिहार एक्सप्रेस खरसिया में डेढ़ घंटे, उत्कल एक्सप्रेस- चांपा में डेढ़ घंटे, पुणे हटिया ब्रजराजनगर में दो घंटे, टाटा इतवारी पैसेंजर रायगढ़ में एक घंटे, उत्कल एक्सप्रेस राजगांगपुर में दो घंटे, साउथ बिहार एक्सप्रेस राउरकेला में एक घंटे और दिल्ली-भुवनेश्वर एक्सप्रेस झारसुगुड़ा में दो घंटे फंसी रही।


सीएम देवेंद्र को सुप्रीम कोर्ट का झटका

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस को सुप्रीम कोर्ट की ओर से बड़ा झटका चला है। चुनावी हलफनामे में जानकारी छिपाने के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट का फैसला रद्द करते हुए उनके खिलाफ ट्रायल चलाने का आदेश दिया है। उनके खिलाफ मजिस्ट्रेट कोर्ट में ट्रायल चलेगा। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के खिलाफ दाखिल याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट को यह तय करना था कि 2014 के चुनावी हलफनामे में आपराधिक केसों की जानकारी छिपाने पर फडणवीस के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की इजाजत दी जाए या नहीं।
फडणवीस पर 2014 के चुनावी हलफनामे में दो आपराधिक केसों की जानकारी छिपाने का आरोप है। ये दोनों केस नागपुर के हैं। इनमें एक मानहानि और दूसरा ठगी का है। वकील सतीश उके ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर आरोप लगाया था कि 2014 के चुनाव का नामांकन दाखिल करते समय में फडणवीस ने झूठा हलफनामा दायर किया था। हालांकि इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने याचिका खारिज कर दी थी और कहा था कि याचिका में तथ्यों की कमी है।


उके ने हाईकोर्ट में नागपुर के ज्यूडि़शियल मजिस्ट्रेट के उस फैसले को चुनौती दी थी जिसमें ऐसी ही याचिका को खारिज कर दिया गया था। याचिकाकर्ता उके ने आरोप लगाया था कि 2009 और 2014 में नागपुर के दक्षिण पश्चिम विधानसभा क्षेत्र से नामांकन भरते समय फडणवीस ने उनके खिलाफ लंबित दो आपराधिक मामलों की जानकारी छिपाई थी। याचिकाकर्ता के मुताबिक 1996 और 1998 में फडणवीस के खिलाफ विभिन्न आरोपों में दो मामले दर्ज किए गए थे। यह जनप्रतिनिधि अधिनियम, 1951 की धारा 125-ए का स्पष्ट उल्लंघन है।


रूस से क्या लेंगे या नहीं, स्वतंत्र

वॉशिंगटन। भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने रूस से सैन्य समझौता करने पर पहली बार अमेरिका को सीधे जवाब दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के साथ बैठक के बाद उन्होंने कहा कि भारत रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीदने के लिए स्वतंत्र है। किसी भी देश को इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा, हम नहीं चाहते कि कोई देश हमें बताए कि रूस से क्या खरीदना है और क्या नहीं।


भारत ने रूस से पिछले साल ही एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम खरीदने का करार किया है। हालांकि, अमेरिका ने इस पर नाराजगी जताते हुए कई बार भारत पर प्रतिबंध लगाने की धमकी भी दी। पत्रकारों से बातचीत करते हुए जयशंकर ने कहा, “हम इस बात के पक्षधर रहे हैं कि सैन्य खरीदारी किसी भी देश का अधिकार है। किसी भी चीज को चुनने की आजादी हमारी अपनी है। मुझे लगता है कि यह सभी के हित में है कि वे हमारी स्वायत्तता को पहचानें।


डोनाल्ड ट्रम्प प्रशासन लगातार ही भारत और रूस के बीच सैन्य समझौते पर नाराजगी जताता रहा है। दो महीने पहले जब भारत ने रूस को एडवांस पेमेंट किया, तब भी अमेरिका ने धमकी देते हुए कहा था कि भारत का यह फैसला दोनों देशों के रिश्तों पर गंभीर असर डालेगा। ट्रम्प प्रशासन के अफसर लगातार कहते रहे हैं कि भारत को सैन्य समझौतों के लिए अमेरिका और रूस में से किसी एक को चुनना होगा।


अमेरिका काट्सा कानून के तहत अपने दुश्मन से हथियार खरीदने वाले देशों पर प्रतिबंध लगा सकता है। इस लिहाज से भारत भी रूस से हथियार खरीदने के लिए प्रतिबंधों के दायरे में आ सकता है। हाल ही में अमेरिका ने तुर्की पर एस-400 सिस्टम खरीदने के लिए प्रतिबंध लगा दिए थे। साथ ही उसके साथ एफ-35 फाइटर जेट की डील रद्द कर दी थी।


एस-400 मिसाइल सिस्टम, एस-300 का अपडेटेड वर्जन है। यह 400 किलोमीटर के दायरे में आने वाली मिसाइलों और पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों को भी खत्म कर देगा। एस-400 डिफेंस सिस्टम एक तरह से मिसाइल शील्ड का काम करेगा, जो पाकिस्तान और चीन की एटमी क्षमता वाली बैलिस्टिक मिसाइलों से भारत को सुरक्षा देगा। यह सिस्टम एक बार में 72 मिसाइल दाग सकता है। यह सिस्टम अमेरिका के सबसे एडवांस्ड फाइटर जेट एफ-35 को भी गिरा सकता है। वहीं, 36 परमाणु क्षमता वाली मिसाइलों को एकसाथ नष्ट कर सकता है। चीन के बाद इस डिफेंस सिस्टम को खरीदने वाला भारत दूसरा देश है।


भाजपा सबसे बड़ा दल, दो-चार रेप?

नई दिल्ली। रेप को लेकर सोशल मीडिया में मेनका गांधी एक बयान वायरल हो रहा है। जो पूरी तरह भ्रामक है।एक बीजेपी नेता के खिलाफ रेप चार्ज पर असल में मेनका गांधी ने जो कहा था, उसे गलत तरीके से पेश किया गया। वायरल फेसबुक पोस्ट को कौसर सैयद ने 23 सितंबर को शेयर किया था। इस रिपोर्ट को लिखे जाने तक इस फेसबुक पोस्ट को 3100 से ज्यादा बार शेयर किया जा चुका था। ऐसा ही एक और बयान मेनका गांधी के नाम से अप्रैल 2018 में भी वायरल हुआ था।


कीवर्ड्स के आधार खंगालने पर 13 अप्रैल 2018 को प्रकाशित पत्रिका की ये रिपोर्ट सामने आई। इस रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश के चंदौली में मेनका गांधी से जब कठुआ और उन्नाव की घटनाओं को लेकर पूछा गया था कि क्या इनसे पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचा है? तो उनका जवाब था, बीजेपी 11 करोड़ सदस्यों वाली दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है, अगर 1-2 ऐसी घटनाएं हुई हैं तो आप कैसे पूरी पार्टी को दोषी ठहरा सकते हैं? ऐसे में ये निष्कर्ष निकलता है कि मेनका गांधी के असल बयान को वायरल पोस्ट में तोड़मरोड़ कर और गलत तरीके से पेश किया गया। वायरल पोस्ट को लेकर मेनका गांधी के निजी सहायक आनंद चैधरी से संपर्क किया तो उन्होंने वायरल पोस्ट के फर्जी होने की पुष्टि की। चैधरी के मुताबिक मेनका गांधी ने कभी ऐसा बयान नहीं दिया।


दावा-मेनका गांधी ने कहा कि बीजेपी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टीय अगर 2-4 रेप होते हैं तो क्या बुराई?
निष्कर्ष-मेनका गांधी ने असल में कहा था कि बीजेपी 11 करोड़ सदस्यों वाली दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी है, अगर 1-2 ऐसी घटनाएं हुई हैं तो आप कैसे पूरी पार्टी को दोषी ठहरा सकते हैं?


खिलाड़ियों की नीलामी 19 दिसंबर को

शैलेश दिक्षित


कोलकाता। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन के लिए खिलाड़ियों की नीलामी 19 दिसंबर को कोलकाता में होगी। पहली बार नीलामी की प्रक्रिया यहां होगी। खिलाड़ियों की ट्रेडिंग विंडो 14 नवंबर को बंद हो जाएगी। ईएसपीएन क्रिकइंफो के मुताबिक, आठों फ्रैंचाइजियों को ट्रेडिंग विंडो की जानकारी दे दी गई है। इस साल नीलामी के लिए कुल 85 करोड़ रुपए दिए जाएंगे। ये पिछले साल से 3 करोड़ रुपए ज्यादा है। नीलामी में कितने खिलाड़ी हिस्सा लेंगे, इसकी जानकारी अभी नहीं दी गई है।


पिछले साल नीलामी के बाद दिल्ली कैपिटल्स के पास सबसे ज्यादा 8.2 करोड़ रुपए बचे थे। वहीं, रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु के खाते में सबसे कम 1.8 करोड़ रुपए ही बचे। इस बार फ्रैंचाइजियों को 3 करोड़ रुपए अतिरिक्त मिलेंगे। पिछले साल मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम फाइनल में पहुंची थी। तब मुंबई जीता था।
इस बार छोटी नीलामी होगी
आईपीएल-2021 के लिए सभी खिलाड़ियों को नीलामी की प्रक्रिया से गुजरनी होगी। ऐसे में इस बार की नीलामी अपेक्षाकृत छोटी होगी। पिछली बार बड़ी नीलामी जनवरी 2018 में हुई थी। तब टीमों को सिर्फ 5 खिलाड़ी रिटेन करने की छूट दी गई थी। दिल्ली के पास सबसे ज्यादा पैसे बचे हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि वे इस बड़े खिलाड़ियों पर दांव लगाएंगे। दिल्ली की टीम ट्रेडिंग विंडो में अन्य टीमों के मुकाबले ज्यादा सक्रिय रही। श्रेयस अय्यर की कप्तानी वाली टीम ने वेस्टइंडीज के शेरफेन रदरफोर्ड को मुंबई को दे दिया। उनके स्थान पर स्पिनर मयंक मार्कंडे को अपनी टीम में लिया।


गांगुली ने कहा- अश्विन को अपनी टीम में शामिल करना चाहते हैं
दिल्ली की टीम पंजाब से रविचंद्रन अश्विन को भी अपनी टीम में शामिल करना चाह रही है। अश्विन को पंजाब ने 2018 में 7.6 करोड़ में खरीदा था। उन्हें टीम का कप्तान बनाया गया था। उन्होंने पिछले साल 15 विकेट लिए थे। टीम के मेंटर सौरव गांगुली भी अश्विन को अपनी टीम में शामिल करना चाहते हैं। उन्होंने कहा, 'हम पंजाब अश्विन को हमारी टीम में आने देती है, तो हम बहुत खुश होंगे।'


एनआरआई पति के खिलाफ तलाक का मामला

इंदौर। दहेज की मांग पूरी नहीं होने के चलते तीन तलाक दिए जाने का आरोप लगाते हुए यहां 21 वर्षीय महिला ने उसके अनिवासी भारतीय (एनआरआई) पति के खिलाफ नए कानून के तहत मामला दर्ज कराया है। लसूड़िया पुलिस थाने के प्रभारी संतोष दूधी ने सोमवार को बताया कि यह मामला सलीना खान (21) की शिकायत पर जांच के बाद उसके शौहर जीशान फैजल खान और ससुरालियों के खिलाफ रविवार रात दर्ज किया गया। शिकायतकर्ता महिला का पति अमेरिका के कैलिफॉर्निया में काम करता है। उन्होंने बताया कि सलीना ने निकाह के साल भर बाद अपने शौहर पर आरोप लगाया है कि जब उसे दहेज के रूप में ऑडी कार और 50 लाख रुपये नकद नहीं मिले, तो पहले उसे प्रताड़ित किया गया और बाद में तीन बार तलाक कहकर पत्नी मानने से इनकार कर दिया। थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ 'मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अधिनियम 2019' के साथ ही भारतीय दंड विधान की धारा 498-ए (दहेज प्रताड़ना) और अन्य संबद्ध धाराओं में प्राथमिकी दर्ज की गई है।


दूधी ने कहा कि पुलिस आरोपों की जांच के बाद मामले में उचित कदम उठाएगी। गौरतलब है कि 'मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अधिनियम 2019' के जरिए एक साथ तीन बार तलाक बोलकर वैवाहिक संबंध खत्म करने की प्रथा पर वैधानिक रोक लगाई गई है। इस कानून में मुजरिम के लिए तीन साल तक के कारावास का प्रावधान है।


एचआईवी संक्रमित 450 बच्चों की अनदेखी

जिले में 20 हजार लोग एचआईवी पाजीटिव, झेलना पड़ता है दुव्र्यवहार
रायपुर। एक ओर जहां लोग अपने स्वास्थ्य को लेकर इतना ज्यादा चिंतित हैं वहीं दूसरी ओर एच आई वी पाजीटिव को लेकर समाज में हीन भावना है। पीडि़तों को समाज में दोयम दर्जे के रूप में देखा जाता है। सामाजिक स्तर पर पीडि़तों को दुव्र्यवहार झेलना पड़ता है। तमाम सरकारी प्रचार प्रसार जागरूकता के बाद भी लोग जागरूक नहीं हो पाए हैं।
एच आई वी पाजीटिव -असुरक्षित यौन सम्बन्ध, संक्रमित ब्लड, जिसे बिना सोचे समझे जरुरतमंदों को चढ़ा देना भी एचआईवी संक्रमण का प्रमुख कारण है। छत्तीसगढ़ में एक संस्था 2009 से एड्स संक्रमित लोगों को समाज में स्थान दिलाने एवं आत्मविश्वास जगाने सतत प्रयास कर रही है । विहान केयर एंड सपोर्ट सेंटर की स्थापना 2013 से हुई है जो बच्चों के बेहतर जीवन के लिए जागरूक कर रही है । संस्था द्वारा प्रोत्साहित कार्य -इस संस्था में 19हजार एच आई वी पाजीटिव हैं जो एक साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं, घर -घर जाकर 9 महिलाएं कॉउंसलिंग करती है,संस्था 120 बच्चों को पोषक तत्वों के साथ एच आई वी प्रतिरोधक दवाई बच्चों को देती है। पोषक तत्व में आटा, दाल, गुड़, खजूर, सोयाबीन बड़ी संस्था द्वारा दिए जाते हैं। इसके अलावा संस्था प्रमुख रिंकी अरोरा ने दुर्ग और जगदलपुर में एच आई वी पाजीटिव 294 महिलाओं का प्रसव करवाई है, जिसमे से केवल 9 ही बच्चे संक्रमित पाए गए। माता पिता दोनों को एड्स है, तो डॉक्टर की देख रेख बच्चा स्वस्थ पैदा होता है। विहान संस्था के द्वारा लगभग 32 जोड़ों की शादी करवाई है, दोनों एच आई वी पाजीटिव होने के बाद भी आप एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दे सकते हैं। संस्था प्रमुख विहान एड्स केयर एंड सपोर्ट सेंटर की प्रमुख रिंकी अरोरा ने सुझाव दिया कि इस बीमारी का जितनी जल्दी पता चलेगा, यह उतने ही जल्दी ठीक होने की उम्मीद होती है, जनता से रिश्ता अखबार के माध्यम से सन्देश है कि हर लड़के एवं लड़की को शादी के पहले अपना एच आई वी परीक्षण अनिवार्य रूप से करवाना चाहिए। इस बीमारी को मुख्य रूप से 4 स्टेज में बांटा गया है एंटी रेट्रो वाइरल ट्रीटमेंट के द्वारा जांच के तुरंत बाद दवाई चालू हो जाना चाहिए तो इसे कण्ट्रोल किया जा सकता है । जिसे टेस्ट एंड ट्रीट गाइडलाइन कहते हैं इसके बाद जब तक इंसान जिएगा उसकी दवाइयां चलती रहेगी,आम लोगों में एचआइवी 15-25 साल की उम्र में ज्यादा देखा जाता है इसके लिए जागरूक बनना होगा रक्त चढ़ाने से पहले प्रमाणित ब्लड बैंक से ही ब्लड लिया जाना चाहिए, अपने बच्चों से इस मुद्दे पर दोस्त बनकर खुलकर बात करे एवं सेक्स एजुकेशन को बढ़ावा देने में मदद कर, हर इंसान जीने की चाह रखता है । यह कोई छूत की बीमारी नहीं है जो साथ रहने से फैलने वाली नहीं है। कुछ शुरुआती चिन्ह हैं जो दिखाई देने पर तुरंत सम्बंधित डॉक्टर से संपर्क करे -फोड़े फुंसी होने पर, संक्रमण लम्बे समय तक रहने पर, जुखाम डायरिया लम्बे समय तक रहने पर, टी बी हो जाने पर, कोई भी रोग जल्दी से ठीक नहीं होना लक्षण है।


डा.बिजंवार


तीसरे विश्वयुद्ध की आहट (विचार)

पाकिस्तान और भारत, सऊदी अरब और ईरान, अमेरिका, चीन, रूस, इजराइल इत्यादि इत्यादि।। वर्त्तमान में सभी देशों के एक दूसरे से संबंध किसी न किसी विषय को लेकर खराब चल रहे है। हर कोई विवादों को तूल दे रहा है। विवादित विषयों का संभव है की बातचीत से समाधान निकल भी जाए परन्तु अहम् की लड़ाई के चलते कोई भी बातचीत नहीं करना चाह रहा है। कुछ शक्तिशाली, विकसित देश सम्पूर्ण विश्व पर तानाशाही करते है। उनकी तानाशाही किसी से छुपी नहीं है। सभी जानते है की कुछ राष्ट्र अध्यक्षों के भाषण और नीतियां विश्व अशांति की आग में घी का काम कर रही है। जहाँ एक और भारत पाकिस्तान की आतंकवादी गतिविधियों से परेशान है वहीं चीन भारत के खिलाफ अपने छुपे हुए मंसूबोंके लिए को पाकिस्तान को सहयोग कर पूरा कर रहा है।वर्त्तमान में भारत और पाकिस्तान के रिश्ते युद्ध का संभावनाएं तलाश रहे है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री प्रतिदिन भारत को परमाणु बम युक्त युद्ध की धमकी दे रहे हैं।


कभी नार्थ कोरिया का मिसाईल प्रशिक्षण करना, कभी अमेरिका के द्वारा दूसरे देश का ड्रोन मार गिरना, विश्व शान्ति के भंग होने का कारण बन रहा है।तीसरा विश्व युद्ध मानवता के दरवाजे पर दस्तक दे रहा है।हर रोज एक नई बात को लेकर बढ़ता तनाव, आखिरकार एक दिन तृतीय विश्व युद्ध का रूप ले ही लगा।स्थिति और हालात तो यही कहते हैं।अनुभव में पाया गया है की चीन भारत के शत्रु देशों को यथासंभव अपने लाभ के लिए सहयोग करता है।ठीक इसी तरह सऊदी अरब में तेल के ठिकानों में अमेरिका की बढ़ती रूचि के चलते अमेरिका हर बात में सऊदी अरब का साथ देता रहा है।वर्तमान में ईरान और सऊदी अरब के रिश्ते बेहद तनावपूर्ण बने हुए है।सऊदी अरब अकेले ईरान से युद्ध में जीत नहीं सकता।


ईरान की तुलना में सऊदी अरब हथियारों की होड़ में बहुत पीछे है।ऐसे में यदि ईरान और सऊदी अरब के मध्य युद्ध होता है तो संभावना बनती रहती है की अमेरिका ही सऊदी अरब की लड़ाई लड़ेगा।इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता की ईरान का साथ भी कुछ देश अवश्य देंगे।चीन सदैव उन देशों का साथ अमेरिका के विरोधी होते है।रूस और चीन के आपसी रिश्ते भी किसी से छुप्पे नहीं है, सीरिया, और इजराइल भी इस युद्ध में कूद सकते है और भी अन्य देश तटस्थ नहीं रह सकते।हालात और परिस्थितियां कुछ यही इशारा करती है।भविष्यवाणियों को और हालिया राजनैतिक दबाव को देखें तो ये कहना मुश्किल नहीं होगा कि युद्ध के हालात बनते जा रहे हैं।वर्तमान में यदि तृतीय विश्व युद्ध शुरू होता है तो यह होने वाला युद्ध विषयों,समस्याओं और समस्याओं या नीतियों जैसे कारणों पर आधारित न होने की जगह यह नाक, अहंकार और वर्चस्व की लड़ाई होगा।सब एक-दूसरे को नीचा दिखाने और स्वयं को शक्तिशाली सिद्ध करने के लिए यह युद्ध मुख्य रूप से कर सकते है।इस बार का युद्ध ज्यादा खतरनाक होगा।कारण ये है कि अब कई देशों के पास न्यूक्लियर हथियार हैं।तृतीय विश्व युद्ध शुरू होने के कारण नहीं हो सकते हैं-


• अपने को क्षेष्ठ साबित करना।


• आतंकबाद का बढ़ता प्रकोप।


• समुद्री सीमा का विस्तार।


• जंगल में एक ही शेरकी दावेदारी बढ़ना।


• जल और कच्चे तेल के लिए।


जैसे अनगिनतकारण हो सकते है…
आज 15000 से अधिक परमाणु बम दुनिया के देशों के पास है जो दुनिया को 300 बार से अधिक नष्ट करने की क्षमता रखते है।इसलिए ये कहना थोड़ा मुश्किल हो जाता है कि तृतीय विश्व युद्ध के बाद कोई देश अपने आप को सुरक्षित रख पायेगा। शीत युद्ध के समय तो गुटनिरपेक्ष की नीति तो भारत जैसे देशों को सुरक्षित रखने में एक हद तक कारगर रहा लेकिन तृतीय विश्व मे कोई देश अपने आप को अलग नही रख सकता कोई आज पूरी दुनिया के देशो का हित एक-दूसरे से दूसरे-तीसरे से जुड़ा है।


गांधी जयंती:अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस

मोहनदास करमचन्द गांधी (2अक्टूबर 1869  - 30 जनवरी 1948) भारत एवं भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनैतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे। वे सत्याग्रह (व्यापक सविनय अवज्ञा) के माध्यम से अत्याचार के प्रतिकार के अग्रणी नेता थे, उनकी इस अवधारणा की नींव सम्पूर्ण अहिंसा के सिद्धान्त पर रखी गयी थी जिसने भारत को आजादी दिलाकर पूरी दुनिया में जनता के नागरिक अधिकारों एवं स्वतन्त्रता के प्रति आन्दोलन के लिये प्रेरित किया। उन्हें दुनिया में आम जनता महात्मा गांधी के नाम से जानती है। संस्कृत भाषा में महात्मा अथवा महान आत्मा एक सम्मान सूचक शब्द है। गांधी को महात्मा के नाम से सबसे पहले 1914 में राजवैद्य जीवराम कालिदास ने संबोधित किया था। उन्हें बापू (गुजराती भाषा में બાપુ बापू यानी पिता) के नाम से भी याद किया जाता है। सुभाष चन्द्र बोस ने 6 जुलाई 1944 को रंगून रेडियो से गांधी जी के नाम जारी प्रसारण में उन्हें राष्ट्रपिता कहकर सम्बोधित करते हुए आज़ाद हिन्द फौज़ के सैनिकों के लिये उनका आशीर्वाद और शुभकामनाएँ माँगीं थीं। प्रति वर्ष 2 अक्टूबर को उनका जन्म दिन भारत में गांधी जयंती के रूप में और पूरे विश्व में अन्तर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के नाम से मनाया जाता है।


सबसे पहले गान्धी ने प्रवासी वकील के रूप में दक्षिण अफ्रीका में भारतीय समुदाय के लोगों के नागरिक अधिकारों के लिये संघर्ष हेतु सत्याग्रह करना शुरू किया। 1915 में उनकी भारत वापसी हुई। उसके बाद उन्होंने यहाँ के किसानों, मजदूरों और शहरी श्रमिकों को अत्यधिक भूमि कर और भेदभाव के विरुद्ध आवाज उठाने के लिये एकजुट किया। 1921 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की बागडोर संभालने के बाद उन्होंने देशभर में गरीबी से राहत दिलाने, महिलाओं के अधिकारों का विस्तार, धार्मिक एवं जातीय एकता का निर्माण व आत्मनिर्भरता के लिये अस्पृश्‍यता के विरोध में अनेकों कार्यक्रम चलाये। इन सबमें विदेशी राज से मुक्ति दिलाने वाला स्वराज की प्राप्ति वाला कार्यक्रम ही प्रमुख था। गाँधी जी ने ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों पर लगाये गये नमक कर के विरोध में 1930 में नमक सत्याग्रह और इसके बाद 1942 में अंग्रेजो भारत छोड़ो आन्दोलन से खासी प्रसिद्धि प्राप्त की। दक्षिण अफ्रीका और भारत में विभिन्न अवसरों पर कई वर्षों तक उन्हें जेल में भी रहना पड़ा।


गांधी जी ने सभी परिस्थितियों में अहिंसा और सत्य का पालन किया और सभी को इनका पालन करने के लिये वकालत भी की। उन्होंने साबरमती आश्रम में अपना जीवन गुजारा और परम्परागत भारतीय पोशाक धोती व सूत से बनी शाल पहनी जिसे वे स्वयं चरखे पर सूत कातकर हाथ से बनाते थे। उन्होंने सादा शाकाहारी भोजन खाया और आत्मशुद्धि के लिये लम्बे-लम्बे उपवास रखे।


कोई बड़ा निर्णय ले सकते हैं:मीन

राशिफल


 मेष-आज आपको किसी खास व्यक्ति से प्रेरणा मिल सकती है। माता-पिता के साथ आप धार्मिक स्थल पर जा सकते हैं। आपका स्वास्थ्य पहले से बेहतर बना रहेगा। आज आप बढ़िया खाने का लुफ्त उठायेंगे। आपकी किसी पुराने दोस्त से मुलाकात होने की संभावना बन रही है। आपका दोस्त आपको बिजनेस के कुछ नये आइडिया दे सकता है। समाज में आपकी मान-प्रतिष्ठा बनी रहेगी। कुछ बड़े लोग आपके व्यवहार से प्रसन्न होंगे। दाम्पत्यजीवन में मधुरता बढ़ेगी। रिश्ते बेहतर होंगे। दुर्गा चालीसा का पाठ करें, तरक्की के नए रास्ते खुलेंगे।


वृष-आज आप पूरा दिन खुद को तरोताजा महसूस करेंगे। आपके आसपास सकारात्मक ऊर्जा बनी रहेगी। लोग आपसे खुश रहेंगे। आप बड़े बिजनेस ग्रुप से साझेदारी  कर सकते हैं। आज आपको लाभ के कुछ अच्छे अवसर प्राप्त होंगे। आपको किसी सोर्स से धन लाभ होगा। कला के क्षेत्र से जुड़े लोगों को किसी समारोह में जाने का मौका मिलेगा।  जानकार आपकी क्रिएटिविटी की सराहना करेंगे। मंदिर में साबुत मूंग की दाल दान करें, धन में वृद्धि होगी।


मिथुन-आज का दिन आपके लिये अच्छे परिणाम लेकर आया है। कॉमर्स स्टूडेंट्स के लिए आज का दिन बेहतर रहेगा। किसी विषय में आ रही प्रोब्लम आज दूर हो जायेगी। घर वालों के साथ गुड टाईम स्पेंड करेंगे, जिससे घर का माहौल खुशनुमा बना रहेगा। ऑफिस में सहकर्मियों का पूरा-पूरा सहयोग मिलेगा। जूनियर आपसे काम सीखना चाहेंगे। लवमेट के साथ रिश्तों में सुधार आयेगा। उनके साथ बाहर डीनर करने का प्लान बना सकते हैं। आपका कोई काम आज आसानी से पूरा हो सकता है। किसी कन्या के पैर छूकर आशीर्वाद लें, जीवन में सब कुछ अच्छा रहेगा।


सिंह-आज आपको अपनों से संबंध बेहतर बनाकर रखने चाहिए। दोस्तों के साथ कुछ अनबन हो सकती है। रोजगार की तलाश कर रहे युवाओं को जॉब के कई सुनहरे अवसर मिलने की संभावना है। आपको कोई भी अवसर हाथ से नहीं जाने देना चाहिए। इस राशि के जिन लोगों की मोबाइल शॉप है, आज का दिन उनके लिए मुनाफा लेकर आया है। आप बेवजह की चीजों पर खर्च करने से बचें। साथ ही वाहन चलाते समय अपने साथ जरूरी  कागजाद रखना ना भूलें। मंदिर में एक मिट्टी का घड़ा दान करें, आपके साथ सब अच्छा होगा।


कन्या-आज आपको सरकारी कामों में किसी से मदद मिल सकती है, जिससे आपका काम समय पर पूरा होगा। काम के प्रति आपकी मेहनत और लगन देखने वाली होगी।आज आपकी सफलता सुनिश्चित होगी। परिवार वालों की उम्मीदें आपसे बनी रहेगी। धार्मिक कार्यों में आपकी रुचि बढ़ेगी। आज आप दोस्तों के साथ मूवी देखने का प्लान बनायेंगे। प्रतियोगी परिक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों को कोई गुड न्यूज मिलेगी। लवमेट्स कहीं घूमने जा सकते हैं। माँ दुर्गा को पुष्प अर्पित करें, आपके सभी काम सफल होंगे।


तुला-आज का दिन मिली-जुली प्रतिक्रिया वाला रहेगा। आप किसी सामाजिक कार्य में रुचि लेंगे। आपको धार्मिक आयोजन से जुड़ने का मौका मिलेगा। कार्यस्थल पर आपको थोड़ा संभलकर चलने की जरूरत है। कोई व्यक्ति आपके काम में अड़चन डाल सकता है। आज आप अपने काम पर ज्यादा ध्यान दें । दूसरों से उलझने से बचें । परिवार में भी आपको रिश्तों  के बीच बेहतर तालमेल बनाये रखने की कोशिश करनी चाहिए। गाय को हरी घास खिलाएं, आपकी सभी समस्याएं दूर होगी।


वृश्चिक-आज आपके सोचे हुए काम पूरे होंगे। आपको दोस्तों से कोई अच्छी खबर मिलने की उम्मीद है। ऑफिस में भी आपको अधिकारियों से मदद मिल सकती है। बिजनेस में आप  बड़ी डील का हिस्सा बन सकते हैं। आपकी तरक्की सुनिश्चित है। नौकरी पेशा लोगों को आज इंक्रीमेंट विद प्रमोशन का लाभ मिल सकता है। आपसी प्यार आपके दाम्पत्य संबंधों को और भी बेहतर बनायेगा। पारिवारिक जीवन आज हर तरह से अच्छा रहेगा।बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद बनाये रखें, सब ऐसे ही अच्छा चलता रहेगा। सेहत के मामले में भी सब बेहतर रहेगा। दुर्गा जी को नारियल अर्पित करें, सफलता आपके कदम चूमेगी


धनु-आज बड़े-बुजुर्ग अपने दोस्तों से मिल सकते हैं। उनकी सेहत ठीक बनी रहेगी। एजेंट के रूप में काम कर रहे लोगों को आज लाभ के कई सारे मौके मिलेंगे। बच्चे घर के काममें आपका हाथ बटायेंगे। आपका कोई जरूरी काम आज बड़ी ही आसानी से और समय पर पूराहोगा, जिससे आप काफी खुश रहेंगे। जीवनसाथी के साथ ख़ुशियों के पल को शेयर करेंगे, आपको और महसूस होगा  । आज आप किसी दोस्त की बर्थडे पार्टी में शामिल हो सकते हैं।  मंदिर में लौंग, इलायची चढ़ाएं, जीवन में लाभ के मौके मिलते रहेंगे।


मकर-आज आप अपने लक्ष्य के बारे में सोच-विचार करेंगे। बिना सोचे-समझे किसी पर भरोसा करने से आपको बचना चाहिए। परिवार वालों के साथ प्रेम भाव बढ़ेगा , आपके जीवन के लिये सुकून देने वाला साबित रहेगा। पॉलिटिकल साइंस के छात्रों के लिए दिन ठीक-ठाक रहेगा। उन्हें पढ़ाई-लिखाई में मेहनत करने की जरूरत है। आपको पहले किसी काम के लिए किये गये प्रयासों का आज बेहतर फल मिल सकता है। आपका आर्थिक पक्ष सामान्य रहेगा। दुर्गा जी को मिश्री का भोग लगाएं, आपकी सभी समस्याओं का हल निकलेगा।


कुंभ-आज आपके हर काम का हल चुटकियों में निकल जायेगा। ऑफिस में आपके काम की तारीफ होगी। किसी प्रोजेक्ट के लिये आपको अपनी राय देने का मौका मिलेगा। लोगों को आपका काम पसंद आयेगा। आज आप लेखन कार्यों में रुचि लेंगे। घर के सुख-सौभाग्य में बढ़ोतरी होगी। जीवनसाथी के साथ धार्मिक स्थल की यात्रा करेंगे। इससे आपके संबंधोंमें मजबूती बरकरार रहेगी। आज किसी काम के लिए की गई मेहनत से आपके माता-पिता खुश दिखाई देंगे। माँ दुर्गा को श्रृंगार का सामान चढ़ायें, सभी कामों में सफलता मिलेगी।


मीन-आज आप कोई बड़ा निर्णय ले सकते हैं। दोस्तों के साथ आप अपनी कोई बात शेयर कर सकते हैं। आपको किसी नयी बिजनेस डील के लिए विदेश जाने का ऑफर मिल सकता है। आप पार्टनर के साथ शॉपिंग की प्लानिंग करेंगे। इस राशि के बच्चों की पढ़ाई बेहतर तरीके से चलेगी। परिवार में सबकी सेहत अच्छी बनी रहेगी। आप काम को लेकर कोई नया विचार बना सकते हैं। आपकी आर्थिक स्थिति ठीक बनी रहेगी। ऑफिस में सबका सहयोग पाने के लिये आपको थोड़ा मेहनत करनी पड़ सकती है। ब्राहमण का आशीर्वाद लें, आपका आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।


अनार के लाभ और विशेषताएं

अनार (वानस्पतिक नाम-प्यूनिका ग्रेनेटम) एक फल हैं, यह लाल रंग का होता है। इसमें सैकड़ों लाल रंग के छोटे पर रसीले दाने होते हैं। अनार दुनिया के गर्म प्रदेशों में पाया जाता है। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह एक महत्त्वपूर्ण फल है। भारत में अनार के पेड़ अधिकतर महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और गुजरात में पाए जाते हैं। सबसे पहले अनार के बारे में रोमन भाषियों ने पता लगाया था। रोम के निवासी अनार को ज्यादा बीज वाला सेब कहते थे। भारत में अनार को कई नामों में जाना जाता है। बांग्ला भाषा में अनार को बेदाना कहते हैं, हिन्दी में अनार, संस्कृत में दाडिम और तमिल में मादुलई कहा जाता है। अनार के पेड़ सुंदर व छोटे आकार के होते हैं। इस पेड़ पर फल आने से पहले लाल रंग का बडा फूल लगता है, जो हरी पत्तियों के साथ बहुत ही खूबसूरत दिखता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि यह फल लगभग ३०० साल पुराना है। यहूदी धर्म में अनार को जननक्षमता का सूचक माना जाता है, जबकि भारत में अनार अपने स्वास्थ्य सम्ब्न्धी गुण के कारण लोकप्रिय है।


औषधीय गुण
अनार में प्रचुर मात्रा में लाभदायक प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, विटामिन और खनिज पाए जाते हैं। १०० ग्राम अनार खाने पर हमारे शरीर को लगभग ६५ किलो कैलोरी ऊर्जा मिलती है। कई आयुर्वेदिक दवाएं बनाने में भी अनार का प्रयोग किया जाता है। इसके बीजों से निकले तेल का प्रयोग औद्योगिक क्षेत्र में किया जाता है। अनार के पेड़ की लकड़ी बहुत मजबूत होती है। आमतौर पर इसकी लकड़ी का प्रयोग टहलते समय काम में लाई जाने वाली छड़ी बनाने में किया जाता है। इस पर किए गए अध्ययनों से पता चलता है कि अनार रक्तसंचार वाली बीमारियों से लड़ता है, उच्च रक्तचाप को घटाता है, सूजन और जलन में राहत पहुँचाता है, गठिया और वात रोग की संभावना घटाता और जोड़ों में दर्द कम करता है, कैंसर की रोकथाम में सहायक बनता है, शरीर के बुढ़ाने की गति धीमी करता है और महिलाओं में मातृत्व की संभावना और पुरुषों में पुंसत्व बढ़ाता है। अनार को त्वचा के कैंसर, स्तन-कैंसर, प्रोस्टेट ग्रंथि के कैंसर और पेट में अल्सर की संभावना घटाने की दृष्टि से भी विशेष उपयोगी पाया गया है। अमरीकी डॉक्टरों की एक पत्रिका ने हाल ही में लिखा कि अनार का रस वृद्धावस्था में सठिया जाने के अल्सहाइमर रोग की संभावना भी घटाता है।अनार की डाली से बनी हुई कलम पूजा-उपासना और तांत्रिक प्रयोगों में भी इस्तेमाल की जाती है। पुजारी/तांत्रिक एक स्वच्छ कागज़ पर अनार की कलम को लाल रंग की स्याही में डुबोकर रेखाओं और गणित के अक्षरों के जरिये एक यंत्र का निर्माण करते हैं, जो शरीर पर धारण करने से व्यक्ति को नकारात्मक उर्जा के प्रभाव से बचाता है।


समुद्री जीव-विज्ञान का अध्ययन

समुद्री जीव-विज्ञान के अध्ययन को सरल बनाने के लिए समुद्री वातावरण को विभिन्न खंडों एवं प्रदेशों में विभक्त कर दिया गया है। यह विभाजन संयुक्त भौतिक एवं जैविक (physical and biological) निष्कर्ष पर आधारित है। प्रधानत: दो मुख्य प्रदेश होते हैं : (१) नितलस्थ (Benthic) और (२) वेलापवर्ती (Pelagic)। नितलस्थ प्रदेश में तलीय प्राणी तथावेलापवर्ती प्रदेश में तल से लेकर समुद्र की सतह तक के प्राणी आते हैं। ये दोनों प्रदेश एक दूसरे से सरलता से विभेदित किए जा सकते हैं। इनके कई उपखंड भी किए गए हैं।


नितलस्थ प्रदेश के ऊपरी भाग को वेलांचली (Littoral) भाग कहते हैं। वेलांचली भाग पुन: दो उपखंडों, यूलिटोरल (Eulittoral) तथा सबलिटोरल (sublittoral), में विभक्त किया गया है। गहरा समुद्री नितलस्थ निकाय (deep sea benthic system) भी दो क्षेत्रों में विभक्त किया गया है, पूर्व नितलस्थ (२०० से १,००० मीटर) तथा वितलीय नितलस्थ क्षेत्र (१,००० मीटर से समुद्र तल तक)। वेलांचली क्षेत्र के अंदर एक ज्वारांतर क्षेत्र भी होता है, जिसमें समुद्र का तटवर्ती क्षेत्र आता है। यह क्षेत्र ज्वार से आच्छादित तथा अनाच्छादित होता रहता है। इस क्षेत्र के संलग्न पादप साधारणतया धीमी गति से बढ़नेवाले तथा लचीले होते हैं, ताकि ये समुद्री लहरों से अपना बचाव कर सकें। ज्वारांतर क्षेत्र के प्राणियों की किस्म इस क्षेत्र के रेतीले अथवा चट्टानी किस्म पर निर्भर करती है। साधारणत: अनाच्छादित चट्टानी तट के प्राणी हृष्ट पुष्ट होते हैं। बहुधा इन प्राणियों के ऊपर भारी धारारेखित कवच (stream-lined shells) और चूषक सदृश रचनाएँ होती हैं। ये रचनाएँ बंद आसंजित कवच को चट्टानों से चिपकाए रखती हैं। इस प्रकार ये प्राणी समुद्री लहरों के प्रभाव से बचे रहते हैं और भाटा के समय अपने अंदर कुछ पानी रोक भी लेते हैं। बहुत से मोलस्का (Mollusca), नलिका कृमि (Tube worms) तथा बॉरनैकिल (Bornacles) स्थायी रूप से चट्टानों से जुड़े रहते हैं।


गहरे वेलांचली क्षेत्र में संलग्न पौधे अधिकता से पाए जाते हैं। प्रशांत महासागर के केल्प बेड (Kelp beds) में १०० फुट लंबे मैक्रोसिस्टिस (Macrocystis) तथा नेरिओसिस्टिस (Nereocystis) पाए जाते हैं, यद्यपि अधिकांश शैवाल छोटे होते हैं। इस क्षेत्र में आकर्षक लाल शैवाल पाए जाते हैं। इनका उपयोग ऐगार (agar) के उत्पादन में होता है।


सूर्य का प्रकाश गंभीर समुद्री नितलस्थ निकाय के केवल उथले क्षेत्र में ही संसूचित हो सकता है। वितलीय क्षेत्र में घोर अंधकार रहता है। इस क्षेत्र का पानी एक सा ठंडा रहता। इस क्षेत्र में मुख्य भोजन का उत्पादन नहीं होता। इस प्रकार मुख्य खाद्य की कमी के कारण यहाँ पर प्राणियों की संख्या भी कम होती है।


वेलापवर्ती क्षेत्र में प्लवक (plankton) तथा तरणक (nekton) अधिक पाए जाते हैं। इस क्षेत्र में समुद्रतल के ऊपर का सारा पानी आता है। तटीय जल से २०० मीटर तक के जल क्षेत्र को नेरेटिक प्रदेश (Neretic province) तथा इससे अधिक गहरे जल के क्षेत्र को महासागरी प्रदेश कहते हैं। यद्यपि इन दोनों प्रदेशों को एक दूसरे से अलग करनेवाली सीमा स्पष्ट नहीं होती, फिर भी इनमें अलग अलग किस्म के प्लवक तथा तरणक होते हैं। उदाहरण के लिए, तलीय प्राणियों के अंडे तथा बच्चे और जेली फिश (jelly fish) की एकल अवस्थाएँ नेरेटिक क्षेत्र के विशिष्ट अस्थायी प्लवक हैं। नेरेटिक डायटम अधिकाधिक सुप्त बीजाणु (resting spores) उत्पन्न करते हैं। ये बीजाणु प्रतिकूल परिस्थितियों में डूबकर तल में चले जाते हैं। महासागरी प्रदेश में अपेक्षाकृत अनुकूल परिस्थियाँ पाई जाती हैं। अत: इस क्षेत्र के पौधे नेरेटिक क्षेत्र की तरह सुप्त बीजाणु नहीं पैदा करते। महासागरी सतह के प्राणी नीले रंग के होते हैं। महासागरी क्षेत्र के गहरे जल में जहाँ सूर्य का प्रकाश या तो कम रहता है या रहता ही नहीं, प्राणियों का रंग बहुधा लाल, भूरा, बैंगनी काला, अथवा काला होता है। ३०० से ३५० मीटर तक की गहराई में पाए जानेवाले प्राणियों में, विशेषकर मछलियों में, प्रकाशोत्पादक अंग पाए जाते हैं। ये अंग विशिष्ट प्रतिरूपों में व्यवस्थित रहते हैं (देखें, मत्स्य)। संभवत: इससे अन्य प्राणियों को पहचानने में सुविधा होती है। मध्यवर्ती गहराई के नीचे अंधी मछलियाँ (blind fishes) तथा स्क्विड (squid) पाए जाते हैं। इनमें प्रकाशोत्पादक अंग नहीं होते। तलीय मछलियों (bottom living fishes) को आँखें होती हैं। संभवत: इनका उपयोग वे प्रकाशोत्पादक अंग द्वारा उत्पन्न प्रकाश में करती हैं।


मुख्य तीन रूपों में से एक:विष्णु

हिन्दू धर्म के आधारभूत ग्रन्थों में बहुमान्य पुराणानुसार विष्णु परमेश्वर के तीन मुख्य रूपों में से एक रूप हैं। पुराणों में त्रिमूर्ति विष्णु को विश्व का पालनहार कहा गया है। त्रिमूर्ति के अन्य दो रूप ब्रह्मा और शिव को माना जाता है। ब्रह्मा को जहाँ विश्व का सृजन करने वाला माना जाता है, वहीं शिव को संहारक माना गया है। मूलतः विष्णु और शिव तथा ब्रह्मा भी एक ही हैं यह मान्यता भी बहुशः स्वीकृत रही है। न्याय को प्रश्रय, अन्याय के विनाश तथा जीव (मानव) को परिस्थिति के अनुसार उचित मार्ग-ग्रहण के निर्देश हेतु विभिन्न रूपों में अवतार ग्रहण करनेवाले के रूप में विष्णु मान्य रहे हैं।


पुराणानुसार विष्णु की पत्नी लक्ष्मी हैं। कामदेव विष्णु जी का पुत्र था। विष्णु का निवास क्षीर सागर है। उनका शयन शेषनाग के ऊपर है। उनकी नाभि से कमल उत्पन्न होता है जिसमें ब्रह्मा जी स्थित हैं।वह अपने नीचे वाले बाएँ हाथ में पद्म (कमल) , अपने नीचे वाले दाहिने हाथ में गदा (कौमोदकी) ,ऊपर वाले बाएँ हाथ में शंख (पाञ्चजन्य) और अपने ऊपर वाले दाहिने हाथ में चक्र(सुदर्शन) धारण करते हैं।शेष शय्या पर आसीन विष्णु, लक्ष्मी व ब्रह्मा के साथ, छंब पहाड़ी शैली के एक लघुचित्र में।



शब्द-व्युत्पत्ति और अर्थ:-'विष्णु' शब्द की व्युत्पत्ति मुख्यतः 'विष्' धातु से ही मानी गयी है। ('विष्' या 'विश्' धातु लैटिन में - vicus और सालविक में vas -ves का सजातीय हो सकता है।) निरुक्त (12.18) में यास्काचार्य ने मुख्य रूप से 'विष्' धातु को ही 'व्याप्ति' के अर्थ में लेते हुए उससे 'विष्णु' शब्द को निष्पन्न बताया है।वैकल्पिक रूप से 'विश्' धातु को भी 'प्रवेश' के अर्थ में लिया गया है, 'क्योंकि वह विभु होने से सर्वत्र प्रवेश किया हुआ होता है।


आदि शंकराचार्य ने भी अपने विष्णुसहस्रनाम-भाष्य में 'विष्णु' शब्द का अर्थ मुख्यतः व्यापक (व्यापनशील) ही माना है, तथा उसकी व्युत्पत्ति के रूप में स्पष्टतः लिखा है कि "व्याप्ति अर्थ के वाचक नुक् प्रत्ययान्त 'विष्' धातु का रूप 'विष्णु' बनता है"। 'विश्' धातु को उन्होंने भी विकल्प से ही लिया है और लिखा है कि "अथवा नुक् प्रत्ययान्त 'विश्' धातु का रूप विष्णु है; जैसा कि विष्णुपुराण में कहा है-- 'उस महात्मा की शक्ति इस सम्पूर्ण विश्व में प्रवेश किये हुए हैं; इसलिए वह विष्णु कहलाता है, क्योंकि 'विश्' धातु का अर्थ प्रवेश करना है"।


ऋग्वेद के प्रमुख भाष्यकारों ने भी प्रायः एक स्वर से 'विष्णु' शब्द का अर्थ व्यापक (व्यापनशील) ही किया है। विष्णुसूक्त (ऋग्वेद-1.154.1 एवं 3) की व्याख्या में आचार्य सायण 'विष्णु' का अर्थ व्यापनशील (देव) तथा सर्वव्यापक करते हैं; तो श्रीपाद दामोदर सातवलेकर भी इसका अर्थ व्यापकता से सम्बद्ध ही लेते हैं। महर्षि दयानन्द सरस्वती ने भी 'विष्णु' का अर्थ अनेकत्र सर्वव्यापी परमात्मा किया है और कई जगह परम विद्वान् के अर्थ में भी लिया है। इस प्रकार सुस्पष्ट परिलक्षित होता है कि 'विष्णु' शब्द 'विष्' धातु से निष्पन्न है और उसका अर्थ व्यापनयुक्त (सर्वव्यापक) है।


संकल्‍प रूपी संसार

देखो मुनिवर, आज हम तुम्हारे समक्ष पूर्व की भांति कुछ मनोहर वेद मंत्रों का गुणगान गाते चले जा रहे हैं। यह भी तुम्हें प्रतीत हो गया होगा आज हमने पूर्व से जिन वेद मंत्रों का पठन-पाठन किया है। हमारे यहां परंपरागतो से उस मनोहर वेद वाणी का प्रसार होता रहता है। जिस पवित्र वेद वाणी में परमपिता परमात्मा की महिमा का गुणगान गाया जाता है। क्योंकि परमपिता परमात्मा महिमा वादी है। जितना भी जगत है, जड़ जगत अथवा चेतन्‍य जगत हमें दृष्टिपात आ रहा है। उस सर्वत्र ब्रह्मांड के मूल में प्रऻय: वह मेरा देव दृष्टिपात आता रहता है। क्योंकि वह अनुपम है महिमा वादी है और इस ब्रह्मांड के रूप में विद्यमान है। जितना भी जगत है चेतनामयी जगत है इसमें जगत है इसमें वह औत-प्रॏत हो रहा है। 'आत्मा ब्राह्मण ब्रेहे कृतम देवा' वेद का मंत्र कहता है वह परमपिता परमात्मा अनंतमई है। दो प्रकार का जगत हमारे यहां माना गया है। एक जगत है जिसे हम चेतन कहते हैं और दूसरा जडवत माना गया है। दोनों के स्वरूप में वह परमपिता परमात्मा विद्यमान है। वह कैसा देव है, कैसा अनुपम है। वह पिंड रूप और चेतनवत दोनों में विद्यमान है। आओ मेरे पुत्रों वेद मंत्रों का गुणगान करें। वेद मंत्र क्या कह रहा है वेद मंत्र कहता है कि हम दोनों प्रकार के जगत को जानने का प्रयास करें। क्योंकि दोनों प्रकार के इस जगत में एक परमपिता परमात्मा की अनंतमयी महिमा प्राय: दृष्टिपात आती रहती है। जब हम इसके ऊपर विचार-विनिमय प्रारंभ करते हैं। तो प्राय: एक अनूठा जगत, एक अनुपमता हमारे समीप आना प्रारंभ हो जाती है। मेरे पुत्रों, विशेषता में नहीं ले जा रहा हूं तुम्हें इन वाक्यों में ले जाना नहीं चाहता हूं। यह तो अनंतमई एक धृति मानी गई है। जहां उस परमपिता परमात्मा को हम पुरोहित और विष्णु के रूप में वर्णन करते रहते हैं। क्योंकि परमपिता परमात्मा का जो अनंत जगत है। वह दो प्रकार की आभा में निहित हो रहा है। एक जंगम ब्रह्मा, एक वृत्‍यम दिव्‍याहम' उस परमपिता परमात्मा को विष्णु कहते हैं। विष्णु के रूप में विद्यमान रहता है। जब हम विष्णु की विवेचना करना प्रारंभ करते हैं। हे विष्णु, कल्याणकारी है। हे विष्णु, अनंतमई विद्यमान है। हमारे यहां वैदिक साहित्य में वेद के मंत्रों में विष्णु नाम परमपिता परमात्मा का माना गया है। हमारे यहां पर्यायवाची जब शब्द आते हैं तो विष्णु की बहुत सी विवेचना होती रहती है। हमारे यहां यह कहते हैं कि विष्णु ब्रह्मा मूल में एक वर्क रहता है परंतु उसका जो बनता है वह अनंत मई कहलाता है परंतु मूल में जो वाक कहते हैं। विष्णु जो पालन करने वाला है। पालन करने वाला वह परमपिता परमात्मा है। जो एक-एक कण कण में व्याप्त है और वह नाना प्रकार के खाद और खनिज पदार्थों के द्वारा हमारा पालन कर रहा है। निर्माण कर रहा है। यह निर्माणवेता भी है। पुत्र कि जब रचना होती है तो माता से यह प्रश्न किया जाता है कि है माता तू निर्माण कर रही है अथवा नहीं। तो माता निर्भर हो जाती है कि निर्माण नहीं कर रही, निर्माण करने वाला कोई और ही है। वह परमात्मा विष्णु कहलाता है और वह निर्माण करता और पालन करने वाला है। मुनिवरो हमारे यहां मूल में एक वाक्य आया है कि पालन करने वाला, परंतु देखो 'ब्राह्मण ब्रव्‍हा क्रतम्‌ लोका: वायु संभवब्रहम:' माता का नाम भी विष्णु कहा जाता है। हे माता, तू पालन कर रही है तू अपनी लोरी ओ का पान कराती हुई, उसका पालन कर रही है और पालन में रहने वाला है वह पालना में जो होती है वह महत्व कहलाती है। माता उसका पालन कर रही है। लोरीओ का पान कराती है उसे ज्ञान देती है विवेक में परिणत करा देती है। वही महत्व को धारण करने वाली,अभ्‍यम्‌ ब्राह्मणा अबप्रवे देवाहम ब्रह्मा:' देखो पुत्रों माता सतोगुण से उसका पालन कर रही है। रजोगुण में शासन हो रहा है। तमोगुण उत्पत्ति का मूल कहलाता है। विचार-विनिमय क्या है? वही सतोगुण है, वही रजोगुण है वही तमोगुण कहलाता है। यह जगत एक दूसरे का पूरक कहलाता है। एक दूसरे में पिरोया हुआ था दृष्टिपात आता है। सतोगुण में पालना है और रजोगुण में भी यदि सतोगुण मिश्रित नहीं होगा तो न्याय नहीं होगा और दोनों की तरंगे यदि तमोगुण में नहीं होगी तो उत्पत्ति का मूल भी नहीं बन पाएगा। विचार विनिमय क्या है। वह देखो,रजोगुण वही तो वही सद्गुण एक ही सूत्र के 3 मनके कहलाते हैं और उनकी माला बन जाती है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


October 02, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-59 (साल-01)
2. बुधवार, 02अक्टूबर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन,शुक्‍लपक्ष,तिथि - चतुर्थी, विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 6:15,सूर्यास्त 6:10
5. न्‍यूनतम तापमान -24 डी.सै.,अधिकतम-32+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, बरसात की संभावना रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


दुनिया में सबसे अधिक परेशान देश है 'अमेरिका'

वाशिंगटन डीसी। कोरोना महामारी की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में सबसे अधिक परेशान देश अमेरिका है। वैश्विक मामलों का आंकड़े की लिस्ट में पहले ...