बुधवार, 16 नवंबर 2022

राष्ट्रपति ने 'भारत' को जी-20 की अध्यक्षता सौंपी

राष्ट्रपति ने 'भारत' को जी-20 की अध्यक्षता सौंपी

अकांशु उपाध्याय/अखिलेश पांडेय

नई दिल्ली/बाली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन के समापन समारोह में इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने भारत को जी-20 की अध्यक्षता सौंपी। भारत 1 दिसंबर से आधिकारिक तौर पर जी-20 की अध्यक्षता ग्रहण करेगा।

बाली में G-20 शिखर सम्मेलन के समापन सत्र में पीएम मोदी ने कहा, 'भारत G-20 का जिम्मा ऐसे समय ले रहा है जब विश्व जियो पॉलिटिकल तनावोंआर्थिक मंदी और ऊर्जा की बढ़ी हुई कीमतों और महामारी के दुष्प्रभावों से एक साथ जूझ रहा है। ऐसे समय विश्व G-20 के तरफ आशा की नज़र से देख रहा है।'

वैश्विक विकास में महिलाओं की भागीदारी जरूरी: पीएम

उन्होंने कहा, 'मैं आश्वासन देना चाहता हूं कि भारत की G-20 अध्यक्षता समावेशीमहत्वाकांक्षीनिर्णायक और क्रिया-उन्मुख होगी। हमारा प्रयत्न रहेगा की G-20 नए विचारों की परिकल्पना और सामूहिक एक्शन को गति देने के लिए एक ग्लोबल प्राइम मूवर की तरह काम करेगा।'' पीएम ने कहा, ''वैश्विक विकास महिलाओं की भागीदारी के बिना संभव नहीं है। हमें अपने G-20 एजेंडा में महिलाओं के नेतृत्व में विकास को प्राथमिकता देनी होगी।'

हर भारतीय के लिए गर्व की बात: मोदी

मोदी ने कहा, 'G-20 की अध्यक्षता हर भारतीय के लिए गर्व की बात है। हम अपने विभिन्न शहरों और राज्यों में बैठकें आयोजित करेंगे। हमारे अतिथियों को भारत की अद्भुदताविविधतासमावेशी परंपराओं और सांस्कृतिक समृद्धि का पूरा अनुभव मिलेगा।'

गरीब-मजदूर, किसान के हित की विचारधारा, मुद्दा 

गरीब-मजदूर, किसान के हित की विचारधारा, मुद्दा 

भानु प्रताप उपाध्याय 

मुजफ्फरनगर। जनपद की खतौली विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए रालोद-सपा प्रत्याशी घोषित किए गए पूर्व विधायक मदन भैया ने बुधवार को अपना नामांकन-पत्र दाखिल किया। नामांकन के बाद उन्होंने कहा कि पूरी ताकत के साथ खतौली का उपचुनाव लड़ा जाएगा।

एकजुटता से ही जीत हासिल होगी। उन्होंने अपने बाहरी होने पर कहा कि बाहरी शब्द का प्रयोग विधानसभा क्षेत्र के मुख्य मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए किया जाता है। गठबंधन बेरोजगारी, किसान, मजदूर, महिलाओं के सम्मान के मुद्दों पर चुनाव लड़ेगा।

गौमाता को बचाने के लिए अधिकारी से मिलें ठाकुर 

गौमाता को बचाने के लिए अधिकारी से मिलें ठाकुर 


लंपी वायरस के कहर से गौमाता को बचाने के लिए डिप्टी पशु चिकित्सा अधिकारी से मिले 

आशु ठाकुर

गाजियाबाद। लंपी वायरस के कहर से रोजाना लोनी में सैकड़ों गौमाता मर रही है। इस वायरस से गौमाता को बचाने के लिए बुधवार को गौ प्रेमी आशु ठाकुर ने डिप्टी cvo सहाब, यानी कि डिप्टी पशु चिकित्सा अधिकारी से मिलकर बताया, कि इस वायरस से रोजाना सैकड़ों गौ माता तड़प-तड़प कर मर रही है। पशु चिकित्सा अधिकारी से मिलकर गौमाता को बचाने के संबंध में बैठकर सारी जानकारी उन्हें दी और डिप्टी पशु चिकित्सा अधिकारी ने लोनी में 23,000 वैक्सीन गौ माता के लिए मंगाई थी। जोकि सभी पशुओं के लगभग लग चुकी है और उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द और वैक्सीन उपलब्ध करवाई जाएगी। जो भी गाय पालने वाला व्यक्ति हो या डेरी संचालक हो।

वह इस वायरस से गौमाता और नंदी महाराज को बचाने के लिए सरकार द्वारा बनाई गई वैक्सीन जरूर लगवाएं और जिनके पशुओं में यह लंपी वायरस हो चुका है। वह अपनी गौ माता को रोड पर न छोड़कर उसका इलाज कराएं, वैक्सिंग सौ पर्सेंट कारगर है। इस वायरस की चपेट में आने के बाद आप अपने पशुओं को रोड पर ना छोड़ें, बल्कि ब्लॉक से डॉक्टर बुलवाकर उनका इलाज करवाएं।

गौ माता के प्रति गौ सेवा करने वाले सभी लोगों की अधिकारियों ने सहारना की और साथ ही आश्वासन दिया है, कि जल्द से जल्द इस वायरस को लोनी से खत्म कर दिया जाएगा और गौ माता के लिए हर संभव मेडिसन उपलब्ध करवाएंगे। पशु चिकित्सा अधिकारी ने सोशल मीडिया के माध्यम से हम सभी को गौ सेवा करते हुए देखा है। खासकर उन्होंने आप सभी का भाई गौ प्रेमी आशु ठाकुर और सभी पूरी टीम का धन्यवाद किया। जोकि दिन-रात निशुल्क गौ माता की सेवा में लगे रहते हैं। उन्होंने सभी गौ रक्षक और गो प्रेमियों का आभार व्यक्त किया और मुझे पटका पहनाकर उपहार में गौ माता की एक किताब भेंट की और अधिकारियों ने कहा कि यह हमारी तरफ से एक छोटी सी भेंट है।

आप इसे स्वीकार करें, आप सभी लोनी में बजरंगी के रूप में गौ माता की सेवा में लगे रहते हैं। हमने उनका उपहार स्वीकार किया, इससे उनका और हमारे कार्यकर्ताओं के प्रति गौ माता की सेवा भाव और गौ माता के लिए प्रेम बढ़ेगा और सबसे ज्यादा हम सभी ने जो लोनी ब्लॉक में डॉक्टर साहब सुखपाल का धन्यवाद व्यक्त किया, जो कि हमें दिन हो या रात सुखपाल डॉक्टर साहब 24 घंटे तत्काल डॉक्टर उपलब्ध कराते हैं।

ब्लॉक के डॉक्टर सुखपाल ने डिप्टी पशु चिकित्सा अधिकारी से कहा, कि गौ प्रेमी आशु ठाकुर और उनकी पूरी टीम दिन-रात निस्वार्थ गौ माता की सेवा में लगी रहती है। आने वाले समय में उन्होंने हम सभी के उज्जवल भविष्य की कामना की और सुखपाल कहां, इस उमर में युवा पीढ़ी नशे की ओर ज्यादा आकर्षित है और आप सभी युवा अपना कीमती समय निकालकर दिन-रात गौ माता की सेवा में लगे रहते हैं और सभी वह व्यक्ति, जो निस्वार्थ गौ माता की सेवा में लगे रहते हैं, उनका उत्साह बढ़ाया।

संगठन की सदस्यता, रूप रेखा तैयार की: उपाध्याय 

संगठन की सदस्यता, रूप रेखा तैयार की: उपाध्याय 

भानु प्रताप उपाध्याय 

शामली। उत्तर प्रदेश प्रचार-प्रसार मंत्री सुरेश उपाध्याय व शामली ब्लॉक अध्यक्ष ओमपाल उपाध्याय ने संगठन की सदस्यता ली और उपाध्याय चेतना मंच संगठन को लेकर आगामी रूप रेखा तैयार की। शामली ब्लॉक अध्यक्ष वरिष्ठ समाज सेवी ओमपाल उपाध्याय ने जानकारी दी कि जनपद शामली में भी समाज की महिला को संगठन से जोड़ा जाएगा। उन्होंने बताया कि 20 तारिक को श्रीमती कविता उपाध्याय भी उपाध्याय चेतना मंच संगठन मे शामिल होंगी एवं संगठन मे जिम्मेदारी दी जाएगी। बुधवार को शामली प्रदेश अध्यक्ष के कैम्प कार्यलय पर संगठन की सक्रिय सदस्य्ता ली।

प्रदेश अध्यक्ष संजय उपाध्याय ने स्वागत व खुशी जाहिर की  एवं कहा कि उपाध्याय चेतना मंच संगठन का परिवार बढ़ता व मजबूत होता जा रहा है। सभी को बधाई एवं सभी मिलकर समाज हित मे काम करेंगे।

महंगाई को जायज ठहराने हेतु स्थिति का हवाला नहीं 

महंगाई को जायज ठहराने हेतु स्थिति का हवाला नहीं 

कविता गर्ग 

वाशिम। कांग्रेस ने बुधवार को कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार भारत में महंगाई को जायज ठहराने के लिए अमेरिका तथा अन्य देशों में स्थिति का हवाला नहीं दे सकती है। पार्टी की प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सरकार में कुछ लोग दावा करते हैं कि अमेरिका जैसे देश भी महंगाई से जूझ रहे हैं।

श्रीनेत कहा, ‘‘अमेरिका की क्रय शक्ति समता 15 गुना अधिक है। भारत में आय कम हो गयी है।’’ उन्होंने कहा कि अमेरिका में महंगाई कोविड-19 महामारी के दौरान नागरिकों को सरकार द्वारा मुहैया करायी गयी वित्तीय मदद के कारण हुई।

कांग्रेस नेता ने दावा किया, ‘‘भारत में हमारी सरकार पेट्रोल तथा डीजल पर आबकारी शुल्क से 27 लाख करोड़ रुपये अर्जित करती है। दिल्ली में बैठकर बेरोजगारी और महंगाई से लोगों को होने वाली दिक्कतों को नहीं समझा जा सकता है।’

नगरपालिका पार्षद चुनावों से पहले एक मांग-पत्र जारी

नगरपालिका पार्षद चुनावों से पहले एक मांग-पत्र जारी

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। दिल्ली की 2500 से अधिक निवासी कल्याण संघों (RWA) का प्रतिनिधित्व करने वाली यूनाइटेड रेजिडेंट्स ज्वाइंट एक्शन (URJA) नाम की संस्था ने अगले महीने होने वाले नगरपालिका पार्षद चुनावों से पहले अपना एक मांग-पत्र जारी किया है।  इसमें एक रहने योग्य, सांस लेने योग्य, और आवागमन योग्य शहर की मांग की गयी है। यह संगठन चाहता है कि राजनीतिक दल शहर की बिगड़ती वायु गुणवत्ता को प्राथमिकता देते हुए भूमि, पानी आदि की समस्याओं का समाधान करें और शासन में सुधार लाएँ।

घोषणापत्र में सात प्रमुख मांगें, 12 लक्ष्य, और समाधान प्रदान करने और उन्हें प्राप्त करने के लिए एक रोडमैप शामिल है। यह मांग करता है कि दिल्ली नगर निगम अपने शुरुआती 100 दिनों में एक रोडमैप प्रकाशित करे और उसकी मदद से अगले पाँच सालों में कैसे नागरिकों की मांग पूरी करने का उसका इरादा है ये साफ करे। यह रोडमैप मापने योग्य, समयबद्ध और वार्ड-विशिष्ट लक्ष्यों के साथ अगले पांच वर्षों में नागरिक मांगों को प्राप्त करने के लिए स्पष्ट होना चाहिए। इस रोडमैप के साथ आवंटित बजट और व्यय की प्रगति पर नियमित रिपोर्ट प्रकाशित करने के साथ-साथ सीएजी द्वारा ऑडिट भी करना चाहिए।  

मंगलवार को घोषणापत्र के लॉन्च पर बोलते हुए, ऊर्जा के अध्यक्ष, अतुल गोयल ने कहा, “लोगों की मांगों को पूरा करने में सक्षम होने के लिए एमसीडी को अपने दृष्टिकोण और प्रथाओं में तत्काल और समग्र बदलाव की आवश्यकता है। एमसीडी को हर वार्ड में हर सेवा के लिए जनता के साथ साझेदारी में काम करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बदलाव की जरूरत है ताकि जवाबदेही का निर्माण किया जा सके और जमीन पर काम करने वाले समाधानों की पहचान की जा सके। दिल्ली में वार्ड एक दूसरे से बहुत भिन्न हैं क्योंकि ग्रामीण और शहरी और अर्ध-शहरी क्षेत्र हैं। उनमें से प्रत्येक को मौजूदा बुनियादी ढांचे की स्थिति, जनसंख्या घनत्व और सामाजिक-आर्थिक कारकों के आधार पर एक अनुकूलित दृष्टिकोण, वार्ड-विशिष्ट बजट और स्थानीय क्षेत्र योजना की आवश्यकता होती है। चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों को अपनी विस्तृत योजना जारी करनी चाहिए कि वे उपलब्ध बजट और धन के साथ अपने वार्ड के सामने आने वाले मुद्दों को कैसे हल करेंगे। उम्मीदवारों को शिकायत निवारण और स्थानीय क्षेत्र के फंड के उपयोग पर आरडब्ल्यूए और नागरिकों को भी शामिल करना चाहिए।”  

लॉन्च के मौके पर दिल्ली हाई कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस सुनील गौड़ और एयर मार्शल मल्होत्रा भी मौजूद थे। एमसीडी के लक्ष्यों में, नागरिकों के इस चुनावी घोषणापत्र में बेहतर वार्ड स्तरीय अपशिष्ट प्रबंधन की मांग है, शहर की 80% सड़कों को पैदल चलने वालों, साइकिल चालकों और गैर-मोटर चालित परिवहन के लिए अनुकूल बनाने की मांग है, वन क्षेत्र, जो कि 2015 से 21% पर स्थिर है, में वृद्धि जो की मांग है, आवारा पशुओं की देखभाल और नसबंदी आगी कि व्यवस्था और नगर निगम के लिए केवल इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने कि मांग शामिल है। 

फेडरेशन ऑफ अशोक विहार आरडब्ल्यूए  के अध्यक्ष डॉ. एचसी गुप्ता, जो किऊर्जा की सीनेट के सदस्य भी हैं, ने कहा, “व्यस्त सड़कों पर आवारा मवेशियों की आवाजाही एक यातायात खतरा है और ट्रैफिक कोबाधित करती है। समुदाय के नेताओं के साथ सख्त निगरानी और नियंत्रण तंत्र होना चाहिए, जो सभी क्षेत्रों में वांछित परिणाम ला सकते हैं और दिल्ली को अपने नागरिकों के लिए अधिक चलने योग्य और रहने योग्य बना सकते हैं।”  

दिल्ली को अक्सर दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों में से एक के रूप में स्थान दिया गया है और इसलिए समस्या को हल करने के लिए एमसीडी को कार्रवाई को प्राथमिकता देने की आवश्यकता है। ऊर्जा का घोषणापत्र संभावित तरीकों का सुझाव देता है कि नागरिक निकाय अपने धूल प्रदूषण उपायों, अपशिष्ट प्रबंधन और स्वच्छता प्रक्रियाओं, वायु प्रदूषण निगरानी नेटवर्क, परिवहन और शहरी गतिशीलता प्रणालियों में सुधार कर सकते हैं। उर्जा के महासचिव विंग कमांडर जसबीर चड्डा ने कहा, “सरकार की अधिकांश वायु प्रदूषण कार्य योजनाएँ वृक्षों के आवरण को बढ़ाने पर जोर देती हैं और प्रौद्योगिकी, वित्त और जागरूकता के माध्यम से प्रदूषण के स्रोतों को कम करने और हटाने का लक्ष्य नहीं रखती हैं। दिल्ली में वजीरपुर और आरके पुरम सहित 13 वायु प्रदूषण हॉटस्पॉट हैं।

 जबकि वज़ीरपुर में बहुत सारे उद्योग और वाणिज्यिक समूह हैं, आरके पुरम में वृक्षों का आवरण काफी अधिक है। फिर आरके पुरम अभी भी वायु प्रदूषण का हॉटस्पॉट क्यों है? सामान्य, एक आकार-फिट-सभी दृष्टिकोण और समाधानों के बजाय वार्ड-स्तरीय प्रदूषण स्रोतों से निपटने के लिए कार्य योजनाओं को एक नीचे-ऊपर दृष्टिकोण लेने की आवश्यकता है। एक कार्यान्वयन एजेंसी के रूप में एमसीडी को केवल प्रदूषण स्रोतों की निगरानी से लेकर कटौती तक आगे बढ़ने की जरूरत है, और जहां आवश्यक हो, पूरे वर्ष प्रभावी बंद करने की जरूरत है, न कि केवल सर्दी में।"

अपनी प्रतिक्रिया देते हुए पूर्व मुख्य सचिव दिल्ली सरकार, शैलजा चंद्रा ने कहा, "उर्जा का घोषणापत्र एक महत्वाकांक्षी निर्वाचित निकाय के लिए एक समझदार, उल्लेखनीय रोडमैप है। नगर निगम के स्वच्छता और पशु चिकित्सा कर्मचारियों का आरडब्ल्यूए और निवासियों के साथ अधिकतम इंटरफ़ेस है लेकिन वे ज्यादातर अदृश्य हैं। एक निश्चित मासिक की आवश्यकता है प्रत्येक कॉलोनी में पर्यवेक्षकों के साथ जमीनी स्तर की सफाई, पशु चिकित्सा और बागवानी कर्मचारियों के साथ कॉलोनी आरडब्ल्यूए और निवासियों के बीच बैठक जहां स्थानीय मुद्दों को लाया जा सकता है। आरडब्ल्यूए को हर महीने कर्मचारियों की जवाबदेही को रेट करने के लिए कहा जाना चाहिए। अधिक जवाबदेही की जरूरत है।” 

अगले कुछ हफ्तों में, URJA चुनाव लड़ने वाले प्रमुख राजनीतिक दलों के सदस्यों, वार्ड स्तर के उम्मीदवारों और राज्य के प्रतिनिधियों को अपनी इच्छा सूची प्रस्तुत करेगा ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि पार्टी घोषणापत्र में मांगों को शामिल किया गया है। “हम वार्ड स्तर के उम्मीदवारों के साथ हस्ताक्षर करने और प्रतिबद्ध होने की प्रतिज्ञा भी साझा करेंगे। हम उम्मीद करते हैं कि राजनीतिक दल अपने घोषणापत्र को नागरिकों की मांगों के अनुरूप बनाएं और सत्ता में आने के बाद उन्हें पूरा करें।

आप के आरोपों की जांच कर ‘समुचित कार्रवाई’ करें

आप के आरोपों की जांच कर ‘समुचित कार्रवाई’ करें

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली। भारत निर्वाचन आयोग ने बुधवार को गुजरात के मुख्य निर्वाचन अधिकारी से कहा कि वह सूरत (पूर्व) सीट से उम्मीदवार को नाम वापस लेने को मजबूर किए जाने संबंधी आम आदमी पार्टी (आप) के आरोपों की जांच कर ‘समुचित कार्रवाई’ करें। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के नेतृत्व में आप के चार सदस्यीय शिष्टमंडल ने आज शाम निर्वाचन आयोग के अधिकारियों से मिलकर उन्हें इस आशय का ज्ञापन सौंपा था।

सिसोदिया में आरोप लगाया कि सूरत (पूर्व) सीट से उसके उम्मीदवार कंचन जरीवाला जब निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय पहुंचे तो उन्हें नाम वापस लेने पर मजबूर किया गया। निर्वाचन आयोग के प्रवक्ता ने बताया कि आप का ज्ञापन जांच और समुचित कार्रवाई के लिए गुजरात के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भेज दिया गया है।

आप ने बुधवार को आरोप लगाया कि भाजपा के कहने पर जरीवाला का अपहरण कर लिया गया क्योंकि उसे (भाजपा) गुजरात विधानसभा में सूरत (पूर्व) सीट पर हार का ‘डर’ था। हालांकि, जरीवाला ने एक वीडियो बयान जारी करके स्पष्ट कहा है कि उन्होंने बिना किसी दबाव के नाम वापस लिया है।उन्होंने कहा है कि आप की टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ने पर विधानसभा क्षेत्र के लोग उन्हें ‘राष्ट्र विरोधी’ और ‘गुजरात विरोधी’ कहने लगे थे, इसलिए उन्होंने अपने मन की सुनते हुए पर्चा वापस लिया है।

वहीं, सिसोदिया में दावा किया कि जरीवाला और उनका परिवार मंगलवार से ही लापता थे और अंतिम बार उन्हें अपने नामांकनपत्र की छंटनी के दौरान सूरत में निर्वाचन आयोग के कार्यालय में देखा गया था। सिसोदिया ने गुजरात की मुख्य निर्वाचन अधिकारी पर भी निशाना साधा और उनपर जरीवाला का ‘‘पता लगाने और बचाव’’ के लिए उचित कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और पार्टी के अन्य नेताओं ने आज दिन में इस कथित अपहरण को लेकर निर्वाचन आयोग के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया। पार्टी के विभिन्न नेताओं और कार्यकर्ताओं ने वहां जमा होकर भाजपा के विरोध में नारे लगाए। निर्वाचन आयोग के सूत्रों ने बताया कि निर्वाचन आयोग से मिलने का आप का अनुरोध दोपहर बाद प्राप्त हुआ और उस वक्त वे निर्वाचन सदन के बाहर धरना दे रहे थे। 

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए योजना का उद्घाटन 

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए योजना का उद्घाटन 

इकबाल अंसारी 

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने बुधवार को भगवान मुरुगा के छ: निवासों में एक पलानी दंडयुथापानी मंदिर की ओर से संचालित दो स्कूलों और चार कॉलेजों में अध्ययरत छात्रों के लिए नि:शुल्क नाश्ते की योजना की शुरुआत की। स्टालिन ने राज्य सचिवालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए योजना का उद्घाटन किया।

इस अवसर पर मानव संसाधन और सीई मंत्री पीके सेकर बाबू की उपस्थिति थे। विधानसभा के दौरान विश्वविद्यालय अनुदान मांगों पर चर्चा के दौरान इस आशय की घोषणा की गयी थी। यह योजना 3.7 करोड़ रुपये की लागत से लागू की जा रही थी। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि इससे 4,000 से अधिक छात्रों को लाभ होगा जो दूर दराज के क्षेत्रों से यहां आकर अध्ययन कर रहे है और विशेष कर वे छात्र जो कमजोर तबके से आते है।

विज्ञप्ति में कहा गया कि योजना के तहत पोंगल और इडली या रवा उपमा और इडली या खिचड़ी और इडली बारी-बारी से चटनी और सांभर के साथ दी जाएगी। इस पर आने वाले खर्च को मंदिर की ओर से वहन किया जायेगा।

हवाई यात्रा के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य नहीं

हवाई यात्रा के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य नहीं

अकांशु उपाध्याय

नई दिल्ली नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि हवाई यात्रा के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य नहीं हैलेकिन, कोरोना वायरस मामलों की घटती संख्या के बावजूद उन्हें मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए। अब तकउड़ानों में यात्रा करते समय मास्क का उपयोग अनिवार्य था।

एयरलाइन को जारी एक संचार में मंत्रालय ने कहा कि यह निर्णय सरकार की कोविड-19 प्रबंधन प्रतिक्रिया के लिए एक श्रेणीबद्ध दृष्टिकोण की नीति के अनुरूप लिया गया है। इसमें कहा गया है, ‘अब से इन उड़ानों में केवल यह उल्लेख किया जा सकता है कि कोविड-19 महामारी के खतरे के मद्देनजर सभी यात्रियों को मास्क/फेस कवर पहनने को प्राथमिकता देनी चाहिए।

अद्यतन आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिकदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के उपचाराधीन मरीजों की संख्या घटकर 7,561 रह गई हैजो कुल मामलों का 0.02 प्रतिशत है। वहींमरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 98.79 प्रतिशत है। देश में अभी तक कुल 4,41,28,580 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैंजबकि कोविड-19 से मृत्यु दर 1.19 प्रतिशत है।

कुत्ते के काटने से बच्चे की मौंत, टीका नहीं लगा 

कुत्ते के काटने से बच्चे की मौंत, टीका नहीं लगा 
इकबाल अंसारी 
चिक्कबल्लापुर। कर्नाटक के चिक्कबल्लापुर जिले में कुत्ते के काटने पर समय पर डॉक्टरों द्वारा रेबीज का टीका नहीं लगाने के चलते एक पांच वर्षीय बच्चे की मौंत हो गई। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी। फिरोज और फमिदा का बेटा समीर बाशा कोरातालादिन्ने गांव का रहना वाला था।
जैसे ही यह खबर फैली, लड़के के माता-पिता समेत लोगों ने होसुरु के सरकारी अस्पताल में डॉक्टरों की लापरवाही के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। उन्होंने सवाल उठाए कि कुत्ते के काटने के इलाज के दौरान बच्चे को रेबीज का टीका क्यों नहीं लगाया गया। 30 अक्टूबर को घर के बाहर खेल रहे बच्चे को कुत्ते ने काट लिया। जिसके बाद उसके माता-पिता उसे पास के होसुर सरकारी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर ने उसे एक इंजेक्शन लगाया और वापस भेज दिया।
लेकिन, जब बच्चा ठीक नहीं हुआ, तो वे उसे गौरीबदनूर शहर के एक निजी अस्पताल में ले जाया गया। उसकी हालत गंभीर होने के कारण उसे बेंगलुरु के इंदिरा गांधी बाल स्वास्थ्य संस्थान में रेफर कर दिया गया। बच्चे ने इंदिरा गांधी अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। बल्ड टेस्ट से पता चला था कि कुत्ते के काटने के जहर से उसका मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव पड़ा।
जब माता-पिता अपने बच्चे के मृत्यु प्रमाण पत्र के लिए होसुर सरकारी अस्पताल आए, तो उन्हें पता चला कि डॉक्टर ने इलाज के दौरान उनके बच्चे को रेबीज का टीका लगाने के बारे में नहीं बताया था। पूछने पर चिकित्सक व स्टाफ ने गोलमोल जवाब दिया।इस संबंध में माता-पिता, रिश्तेदारों और लोगों ने धरना दिया और डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

'जांच' का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी 

'जांच' का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी 

अकांशु उपाध्याय 

नई दिल्ली। दिल्ली लोकायुक्त को और अधिक अधिकार प्रदान करते हुए उपराज्यपाल वी. के. सक्सेना ने भ्रष्टाचार-रोधी निकाय की जांच संबंधी आवश्यकताओं में मदद के लिए निदेशक (जांच) का पद सृजित करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी।अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली लोकायुक्त का कार्यालय जांच और नियमित कार्य सहित विभिन्न उद्देश्यों के लिए कर्मचारियों की कमी के कारण शुरुआत से ही गंभीर रूप से पंगु’ था। सार्वजनिक पदाधिकारियों के भ्रष्टाचार की शिकायतों की पड़ताल के लिए अनिवार्य इस निकाय में सहायक और चतुर्थ वर्ग कर्मी जैसे कर्मचारी तो हैं लेकिन यहां जांच प्रभारी मौजूद नहीं हैं।

दिल्ली सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘दिल्ली के उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने दैनिक कामकाज के लिए आवश्यक सहायकों और चपरासी के अलावा निदेशक (जांच) का पद सृजित करने के लिए लोकायुक्त के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है और इस पद का नेतृत्व वरिष्ठ व्यक्ति करेगा।

इससे पहले दिल्ली विधानसभा में पेश करने के लिए लोकायुक्त की वार्षिक रिपोर्ट को मंजूरी देते हुए सक्सेना ने मुख्यमंत्री को लोकपाल की जरूरतें पूरी करने की सलाह दी थी। अधिकारियों ने कहा कि लोकायुक्त की रिपोर्ट लगातार इस बात को रेखांकित करती रही है कि इसके सुचारू और कुशल कामकाज में कई ‘‘अवरोध और बाधाएं’’ थींजिसमें पर्याप्त कर्मचारियों की कमी भी शामिल थी।

उन्होंने रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि इनमें से कुछ बाधाएं वित्तीय स्वायत्तता और पर्याप्त कर्मचारियों की कमी के कारण ‘‘लोकायुक्त की स्वतंत्रता’’ से संबंधित थीं। लोकायुक्त ने समय-समय पर जांच उद्देश्यों के लिए पर्याप्त कर्मचारियों की आवश्यकता की ओर इशारा किया था। अधिकारियों ने कहा कि भ्रष्टाचार के मामलों की जांच के लिए निकाय में फिलहाल एक सहायक निदेशक (जांच) है।

आप के उम्मीदवार जरीवाला का नामांकन-पत्र वापस  

आप के उम्मीदवार जरीवाला का नामांकन-पत्र वापस  

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी 

नई दिल्ली/अहमदाबाद। गुजरात की सूरत पूर्व विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी (आप) के उम्मीदवार कंचन जरीवाला ने बुधवार को अपना नामांकन-पत्र वापस ले लिया, जिसके बाद ‘आप’ ने आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के कहने पर जरीवाला का अपरहण किया गया और उन पर नामांकन वापस लेने का दबाव बनाया गया। भाजपा ने इस आरोप का खंडन किया है।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जरीवाला और उनके परिवार के सदस्य मंगलवार से लापता हैं। सिसोदिया ने कहा, ‘‘भाजपा गुजरात चुनाव में बुरी तरह हार रही है और वह परेशान होकर इतने निचले स्तर पर गिर गई कि उसने सूरत पूर्व से हमारे उम्मीदवार का अपहरण कर लिया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हार के डर से भाजपा के गुंडों ने सूरत से आप के उम्मीदवार कंचन जरीवाला का अपहरण कर लिया।’’ सिसोदिया ने आरोप लगाया कि भाजपा के ‘‘गुंडों’’ ने जरीवाला का नामांकन रद्द कराने की भी कोशिश की थी, लेकिन निर्वाचन अधिकारी ऐसा नहीं कर सके क्योंकि उनके कागजात में कोई कमी नहीं थी।

सिसोदिया ने कहा, ‘‘यह केवल हमारे उम्मीदवार का ही नहीं, बल्कि लोकतंत्र का अपहरण है। गुजरात में हालात बहुत खतरनाक है।’’ आप नेता ने गुजरात के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) पर भी जरीवाला का ‘‘पता लगाने और उन्हें बचाने’’ के लिए उचित कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया। सिसोदिया ने आरोप लगाया कि उम्मीदवार के पिछले 24 घंटे से लापता होने के बावजूद सीईओ यही कहते रहे कि जिला मजिस्ट्रेट और पुलिस अधीक्षक इस मामले को देख रहे हैं।उन्होंने कहा, ‘‘इस घटना ने सीईओ की कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़े किए हैं।’’ उन्होंने इस मामले में बातचीत करने के लिए मुख्य निर्वाचन आयुक्त राजीव कुमार से मिलने का समय मांगा। भाजपा ने इस सीट से मौजूदा विधायक अरविंद राणा को खड़ा किया है।

गुजरात विधानसभा की 182 सीटों के लिए एक दिसंबर एवं पांच दिसंबर को चुनाव होगा और मतगणना आठ दिसंबर को होगी। आप की राज्य इकाई के अध्यक्ष गोपाल इटालिया ने दावा किया कि जरीवाला सत्तारूढ़ दल के दबाव में अपनी उम्मीदवारी वापस लेने के लिए बुधवार को निर्वाचन अधिकारी के कार्यालय में भारी पुलिस सुरक्षा के बीच पहुंचे थे और इस दौरान ‘‘भाजपा के गुंडों’’ ने उन्हें घेर रखा था।

उन्होंने कहा कि जब मीडियाकर्मियों ने जरीवाला से सवाल किए, तो उनके आसपास मौजूद लोग उन्हें तुरंत वहां से ले गए। इटालिया ने आरोप लगाया कि जरीवाला लापता थे और उन्हें ‘‘भाजपा के गुंडे’’ किसी अज्ञात स्थान पर ले गए और उन पर चुनाव से दूर रहने का दबाव बनाया गया।

उन्होंने कहा कि जरीवाला जिस प्रकार नामांकन लेने आए, उससे संकेत मिलता है कि उन पर ‘‘भारी दबाव’’ था। इटालिया ने कहा, ‘‘यदि कोई स्वयं अपनी उम्मीदवारी वापस लेना चाहता है, तो वह पुलिस की भारी सुरक्षा और 50 से 100 गुंड़ों के साथ कार्यालय क्यों आएगा।’’ उन्होंने निर्वाचन आयोग से मामले का संज्ञान लेने का आग्रह किया। बहरहाल, भाजपा की सूरत शहर इकाई के अध्यक्ष निरंजन झांझमेरा ने इन आरोपों का खंडन किया और कहा कि आप को ऐसा करने के बजाय ‘‘अपने घर पर ध्यान’’ देना चाहिए। इटालिया ने कहा कि आप इस मामले में आगे की कार्रवाई के लिए कानूनी मामलों के विशेषज्ञों के अपने दल से सलाह लेगी।

आप की गुजरात इकाई के सह-प्रभारी राघव चड्ढा ने आरोप लगाया कि ‘‘भाजपा के गुंडों’’ ने मंगलवार को जरीवाला का अपहरण कर लिया ताकि उन पर उम्मीदवारी वापस लेने का दबाव बनाया जा सके। चड्ढा ने कहा कि पार्टी ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को इस बारे में सूचित कर दिया है और मामले में एक लिखित शिकायत सौंपी जाएगी।

उन्होंने कहा कि स्थानीय पुलिस और प्रशासन को भी इसकी सूचना दे दी गई है। सूरत के पुलिस आयुक्त अजय तोमर ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि यह मामला उनके संज्ञान में आया है। उन्होंने कहा, ‘‘हमें कोई औपचारिक शिकायत नहीं मिली है, लेकिन यह मामला मेरे संज्ञान में आया है, इसलिए मैं इस पर काम कर रहा हूं।’’ कथित अपहरण को लेकर सिसोदिया और पार्टी के अन्य नेताओं ने निर्वाचन आयोग के कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

स्वास्थ्य: बीमारियों में अरहर की दाल का सेवन न करें 

स्वास्थ्य: बीमारियों में अरहर की दाल का सेवन न करें 

अरहर की दाल खाना हमारे लिए बहुत फायदेमंद है। दाल में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। इसके अलावा इसमें फोलिक एसिड, आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और पोटैशियम जैसे न्यूट्रियंट्स भी पाए जाते हैं। आपको ये भी बता दें कि अरहर का दाल खाने से वजन कंट्रोल रखने में मदद मिलती है। ये दाल खाने में चाहे बहुत फायदेमंद हो पर कुछ लोगों के लिए इसका सेवन बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकता है, तो आइए जानते हैं कि किन बीमारियों में अरहर की दाल का सेवन नहीं करना चाहिए

जिन लोगों को यूरिक एसिड की समस्या है। उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए। यूरिक एसिड में अरहर की दाल खाने से समस्या बढ़ जाती है। अरहर की दाल में प्रोटीन होता है। जिसके कारण शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है। रात में अरहर दाल खाने से कुछ लोगों का पाचन खराब हो जाता है। आपको भी अगर अरहर की दाल खाने के बाद एलर्जी महसूस हो रही है, तो इसका सेवन करने से बचें। हमेशा कोशिश करें कि अरहर की दाल दिन में ही खाएं

जो लोग किडनी की बीमारी से पीड़त हैं। उन्हें अरहर की दाल खाने से बचना चाहिए। इस दाल में बहुत अच्छी मात्रा में पोटैशियम मौजूद होता है जो किडनी की परेशानी को बढ़ाता है। इसलिए इस दाल को खाने से किडनी में स्टोन का आकार बढ़ सकता है। इसके अलावा बहुत अधिक मात्रा में अरहर के दाल का सेवन करने से किडनी शरीर को सही से डिटॉक्सीफाई नहीं कर पाती है।

श्रीराम 'निर्भयपुत्र'

कांग्रेस ने सावित्री को अपना उम्मीदवार घोषित किया

कांग्रेस ने सावित्री को अपना उम्मीदवार घोषित किया

दुष्यंत टीकम 

कांकेर। छत्तीसगढ़ में भानुप्रतापपुर सीट उपचुनाव के लिए राज्य के सत्ताधारी दल कांग्रेस ने बुधवार को सावित्री मंडावी को अपना उम्मीदवार घोषित किया। सावित्री मंडावी इस सीट से विधायक और राज्य विधानसभा के उपाध्यक्ष रहे मनोज मंडावी की पत्नी हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने यह जानकारी दी।

भानुप्रतापपुर के विधायक मनोज सिंह मंडावी के निधन के चलते इस सीट पर उपचुनाव कराया जा रहा है। इस सीट पर पांच दिसंबर को मतदान होगा। राज्य के मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने इस सीट के लिए पूर्व विधायक ब्रह्मानंद नेताम को अपना उम्मीदवार बनाया है। नक्सल प्रभावित कांकेर जिले के अंतर्गत आने वाली भानुप्रतापपुर विधानसभा सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है।

प्रमुख आदिवासी नेता मंडावी का 16 अक्टूबर को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने बताया कि कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने भानुप्रतापपुर सीट पर उपचुनाव के लिए सावित्री मंडावी की उम्मीदवारी को मंजूरी दी है। शुक्ला ने कहा कि पार्टी को विश्वास है कि भानुप्रतापपुर की जनता पिछले चार वर्षों में राज्य सरकार द्वारा किए गए कार्यों और मनोज मंडावी की छवि को ध्यान में रखते हुए उपचुनाव में कांग्रेस उम्मीदवार की जीत सुनिश्चित करेगी।

उन्होंने कहा कि मंडावी ने पिछले लगभग तीन दशक तक क्षेत्र में सक्रिय रूप से काम किया। मनोज मंडावी के निधन के बाद उनकी पत्नी सावित्री मंडावी (56) ने सरकारी स्कूल में शिक्षिका की नौकरी छोड़ दी थी। विपक्षी दल भाजपा ने उपचुनाव के लिए पूर्व विधायक ब्रह्मानंद नेताम को चुनाव मैदान में उतारा है। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने बताया कि इस उपचुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 17 नवंबर है। 18 नवंबर को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी तथा उम्मीदवार 21 नवंबर तक अपना नाम वापस ले सकेंगे।

अधिकारियों ने बताया कि इस सीट के लिए पांच दिसंबर को मतदान होगा और आठ दिसंबर को मतों की गिनती की जाएगी। छत्तीसगढ़ विधानसभा के उपाध्यक्ष एवं सत्ताधारी दल कांग्रेस से भानुप्रतापपुर क्षेत्र के विधायक रहे मनोज सिंह मंडावी का 16 अक्टूबर को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। वह 58 वर्ष के थे। मंडावी पहली बार 1998 में अविभाजित मध्य प्रदेश में इस सीट के लिए विधायक चुने गए थे। मंडावी क्षेत्र के कद्दावर आदिवासी नेता माने जाते थे।

वह वर्ष 2013 और 2018 के चुनाव में भी भानुप्रतापपुर क्षेत्र से विधायक चुने गए थे। मंडावी ने 2000 और 2003 के बीच राज्य में अजीत जोगी के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के दौरान गृह और जेल राज्य मंत्री के रूप में कार्य किया था। राज्य में वर्ष 2018 में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद चार उप चुनाव हुए और सभी में कांग्रेस की जीत हुई है।

छत्तीसगढ़ विधानसभा की 90 सीटों में से कांग्रेस के पास वर्तमान में 70, भारतीय जनता पार्टी के पास 14, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के पास तीन तथा बहुजन समाज पार्टी के पास दो सीटें हैं। वहीं एक सीट रिक्त है।

गांधी की आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया: सीएम 

गांधी की आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया: सीएम 

दुष्यंत टीकम

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को नगर पालिका क्षेत्र डोंगरगढ़ स्थित स्वामी आत्मानंद स्कूल परिसर में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. इंदिरा गांधी की आदमकद प्रतिमा का अनावरण किया।

इस अवसर पर उपस्थित लोगों ने इंदिरा गांधी अमर रहें के नारे लगाए। मुख्यमंत्री ने परिसर में उपस्थित राजीव युवा मितान क्लब, क्रिकेट क्लब एवं अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों से मिल कर उनका अभिवादन स्वीकार किया।

विश्व में उपलब्ध दूसरा सबसे बड़ा माइक्रोब्लॉग बना 'कू'

विश्व में उपलब्ध दूसरा सबसे बड़ा माइक्रोब्लॉग बना 'कू'

अकांशु उपाध्याय/इकबाल अंसारी

नई दिल्ली/वाशिंगटन डीसी। घरेलू माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म कू ने बुधवार को घोषणा की है कि वह दुनिया में उपलब्ध दूसरा सबसे बड़ा माइक्रोब्लॉग बन गया है। मार्च 2020 में लॉन्च किया गया, कू प्लेटफॉर्म ने हाल ही में 50 मिलियन डाउनलोड देखे हैं और विकास के मामले में ऊपर की ओर प्रक्षेपवक्र देखा है। कू के सीईओ और सह-संस्थापक, अप्रमेय राधाकृष्ण ने एक बयान में कहा, "हम अपने उपयोगकर्ताओं से मिली प्रतिक्रिया से अभिभूत हैं और यह साझा करते हुए खुशी हो रही है कि आज हम अपने अस्तित्व के केवल 2.5 वर्षो के भीतर दुनिया के दूसरे सबसे बड़े माइक्रोब्लॉग हैं। लॉन्च के बाद से, हमारे उपयोगकर्ताओं ने हम पर विश्वास किया है।"

कंपनी के बयान में कहा गया है कि कू एकमात्र भारतीय माइक्रोब्लॉग है जो अन्य वैश्विक माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म जैसे ट्विटर, गेटर, ट्रथ सोशल, मास्टोडन, पार्लर के साथ प्रतिस्पर्धा करता है और उपयोगकर्ता डाउनलोड के मामले में (ट्विटर के बाद) दूसरे स्थान पर है। कू के सह-संस्थापक, मयंक बिदावतका ने एक बयान में कहा, "आज कू दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा माइक्रो-ब्लॉग है। विश्व स्तर पर माइक्रो-ब्लॉगिंग परि²श्य में हो रहे परिवर्तनों को देखते हुए, हम अपने पंखों को उन भौगोलिक क्षेत्रों तक विस्तारित करने की सोच रहे हैं जहां मौलिक अधिकारों के लिए शुल्क लिया जा रहा है।" वर्तमान में, कू 10 भाषाओं में उपलब्ध है और इसके यूएस, यूके, सिंगापुर, कनाडा, नाइजीरिया, यूएई, अल्जीरिया, नेपाल, ईरान और भारत सहित 100 से अधिक देशों के उपयोगकर्ता हैं।

कई वायरल और रेस्पेरिटेरी इंफेक्शन में वृद्धि, जानिए 

कई वायरल और रेस्पेरिटेरी इंफेक्शन में वृद्धि, जानिए 

सरस्वती उपाध्याय 

सर्दी लगभग आ चुकी है और मौसम में बदलाव के कारण कई वायरल और रेस्पेरिटेरी इंफेक्शन में वृद्धि हुई है। बिगड़ते प्रदूषण के स्तर और नए ओमिक्रॉन सबवेरिएंट भी बुखार, गले में खराश, खांसी और सर्दी जैसे लक्षण पैदा कर सकते हैं। जब आप इन उपर्युक्त लक्षणों को विकसित करते हैं तो ऐसे में आप बिल्कुल भी लापरवाही न करें, आपको अपनी हेल्थ पर ध्यान देने की सख्त जरूरत है। इस मौसम में जरा सी लापरवाही आपको भारी नुकसान पहुंचा सकती है।

शुंथि सिद्ध जाला पिएं
1 लीटर पानी लें, इसमें आधा छोटा चम्मच सोंठ पाउडर या ताजा अदरक का छोटा डंठल डालकर मध्यम आंच पर 10 मिनट तक उबालें। फिर छान लें और इसे कमरे के तापमान पर आने दें और फिर इसे स्टील की बोतल में भरकर रख लें।

हल्दी के पानी से गार्गल करें
एक ग्लास पानी में 1 चम्मच हल्दी डाल दें और फिर उसके बाद उसे 3 से 5 मिनट तक बॉयल करें।

दिन में 2 से 3 बार इस पानी से गरारे करें।
पानी के दो ग्लास लें और इसमें तुसली के पत्ते डालें, 5-7 पुदिना के पत्ते डालें, आधा चम्मच हल्दी के साथ उसे 7 से 10 मिनट तक मध्यम आंच पर गर्म करें फिर पिएं. इन नुस्खों से आपको जल्द ही असर पड़ेगा।

डाई हर्बल मिक्चर
आधा चम्मच हल्दी लें।
आधा चम्मच जिंजर पाउडर को हर्बल मिक्चर के साथ मिलाएं।
एक ब्लैक पैपर लें और एक चम्मच शहद, इन सब को एक साथ मिलाएं।

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


1. अंक-36, (वर्ष-06)

2. बृहस्पतिवार, नवंबर 17, 2022

3. शक-1944, मार्गशीर्ष, कृष्ण-पक्ष, तिथि-नवमी, विक्रमी सवंत-2079‌‌।

4. सूर्योदय प्रातः 06:43, सूर्यास्त: 05:26। 

5. न्‍यूनतम तापमान- 22 डी.सै., अधिकतम-32+ डी.सै.।

6. समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है। 

7.स्वामी, मुद्रक, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम व शिवांशु, (विशेष संपादक) श्रीराम व सरस्वती (सहायक संपादक) संरक्षण-अखिलेश पांडेय, ओमवीर सिंह, वीरसैन पवार, योगेश चौधरी आदि के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।

8. संपर्क व व्यवसायिक कार्यालय- चैंबर नं. 27, प्रथम तल, रामेश्वर पार्क, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102। 

9. पंजीकृत कार्यालयः 263, सरस्वती विहार लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102

http://www.universalexpress.page/ www.universalexpress.in 

email:universalexpress.editor@gmail.com 

संपर्क सूत्र :- +919350302745--केवल व्हाट्सएप पर संपर्क करें, 9718339011 फोन करें।

(सर्वाधिकार सुरक्षित)

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया

बैठक: महाप्रबंधक ने निरंजन पुल का निरीक्षण किया महाप्रबन्धक श्री सतीश कुमार ने किया निरंजन पुल का निरीक्षण अधिकारियों के ...