शनिवार, 29 मई 2021

संक्रमण के 91,061 मामले मिलें, 4636 की मौत

बीजिंग। कोरोना वायरस की उतपत्ति का स्थल कहे जाने वाले चीन में एक बार फिर अब नए मामलों को पुष्टि हो रही है। चीन में शनिवार को कोरोना 16 नए मामले सामने आने की खबर मिली है। चीन के दक्षिणी प्रांत ग्वांगझू के कुछ इलाकों में ये मरीज मिले है। ग्वांगझू के कुछ इलाकों में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में वृद्धि के बाद शनिवार को कई गतिविधियों पर पाबंदी लगा दी गई और लोगों से अपने घरों में रहने को कहा गया है। मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि स्थानीय रूप से प्रसारित दो मामले दक्षिण में स्थित गुआंगझू प्रांत के हैं, जो हांगकांग से सटा हुआ है। संक्रमण के अन्य मामले संभवत: विदेशों से संक्रमित होकर आए लोगों के हैं।

ग्वांगझू के लीवान जिले के पांच इलाके के लोगों की जांच करायी जा रही है। बाजार, बाल देखभाल केंद्र और मनोरंजन केंद्र बंद कर दिए गए हैं। रेस्तरां में भी लोगों के आने पर पाबंदी लगा दी गयी हैं। जिले के चार इलाके के लोगों से घरों में ही रहने को कहा गया है। बता दें कि चीन में कोरोना वायरस संक्रमण के 91,061 मामले आए हैं और 4636 लोगों की मौत हुई है। चीन के अधिकारियों का मानना है कि विदेश से आने वाले लोग ही संक्रमित हो रहे हैं और स्थानीय स्तर पर संक्रमण के कम मामले हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने शनिवार को कहा कि ग्वांगझू में स्थानीय स्तर पर दो नए मामले आए और 14 मामले देश के दूसरे इलाके से आए।

1 जून से एमपी में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू होगीं

मनोज सिंह ठाकुर              
भोपाल। 1 जून से मध्य प्रदेश में अनलॉक की प्रक्रिया शुरु हो जाएगी। इसके पहले सीएम शिवराज सिंह चौहान आज शनिवार 29 मई को ज़िला, विकासखंड एवं ग्राम स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप्स को संबोधित कर रहे है। इस मौके पर सीएम ने कहा कि पूरे प्रदेश में शनिवार रात 10 बजे से सोमवार को प्रात: 6 बजे तक कोरोना कर्फ्यू रहेगासंभाग के हिसाब से रैड,यलो एवं ग्रीन जोन बनाए जाएंगे। रैड जोन में सभी गतिविधियां बंद रहेंगी( अत्यावश्यक सेवाएं छोड़कर), यलो में कुछ गतिविधियां चालू रहेंगी तथा ग्रीन में राज्य स्तर से प्रतिबंधित गतिविधियों को छोड़कर शेष चालू रहेंगी।सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कई जिलों में कोरोना के केस 10 से भी कम है। अप्रैल में पॉजिटिविटी रेट 25% तक हो गया था अब ये घट के 2% तक आ गया है। जो संक्रमित हैं उनके स्वस्थ होने की दर जो 80% के आसपास थी, आज बढ़कर 95% पहुंच गई है।आज प्रदेश के 18 जिलों में पॉजिटिविटी रेट 1% से कम हो गई। संक्षेप में कहूँ तो क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप्स ने अपने कंधों पर ज़िम्मेदारी उठा ली। यही सही लोकतंत्र है। कोरोना की लड़ाई को  हमने जनांदोलन बनाया और ये आगे भी जारी रहेगी।

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आप सब की मेहतन से संक्रमण दर घट रही है। प्रदेश में सिर्फ इंदौर, भोपाल और सागर में संक्रमण दर 5 प्रतिशत से ज्यादा है। मुरैना में भी कोरोना के केस बढ़ रहे हैं। राजनीतिक आयोजन, सांस्कृति आयोजन, मेला, उत्सव, खेल, मनोरंजन स्थल, मॉल, स्कूल, कालेज, प्रशिक्षण संस्थान, पिकनिक स्थल, आडिटोरियम नहीं खुलेंगे। विवाह में भी सीमित संख्या में लोग रहेंगे। अंतिम यात्रा में भी केवल 10 लोग ही शामिल हो सकते हैं। हम गाइडलाइन भेज रहे हैं। इसके हिसाब से क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी तय करें की क्या करना है। रेड, यलो, ग्रीन जोन बनेंगे, जहां 5 से ज्यादा संक्रमित वो रेड जोन में आएगा।

‘यास’ के बारे में हुई समीक्षा बैठक को सफल बताया

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ओडिशा में चक्रवात ‘यास’ के बारे में हुई समीक्षा बैठक को सफल बताया है। उन्होंने राज्य में आपदा प्रबंधन क्षमताओं को मजबूत करने के लिए भविष्य में भी केंद्र की ओर से भरपूर सहयोग का आश्वासन दिया है। प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया, भुवनेश्वर में एक बहुत ही उपयोगी समीक्षा बैठक हुई। एक ऐसा क्षेत्र जहां ओडिशा ने सराहनीय प्रगति की है। हम आपदा प्रबंधन क्षमताओं को मजबूत करने के लिए मिलकर काम करना जारी रखेंगे।

इससे पहले नवीन पटनायक ने ट्वीट कर प्रधानमंत्री मोदी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, चक्रवात यास प्रभावित क्षेत्रों में पुनर्वास उपायों के लिए 500 करोड़ रुपये की सहायता की घोषणा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का धन्यवाद। साथ ही आपदा रोधी विद्युत अवसंरचना के निर्माण के लिए उठाए गए कदम भी सराहनीय हैं। हम दीर्घकालिक शमन पर काम करेंगे।

अंतरराष्ट्रीय नियमों का खुला उल्लंघन, गिरफ्तार

वाशिंगटन डीसी/ मीन्स्क। अमेरिका ने यह घोषणा बेलारूस की ओर से एक यूरोपियन फ़्लाइट का रूट बदलने और एक विपक्षी एक्टिविस्ट और पत्रकार को प्लेन से गिरफ़्तार करने के बाद की है। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने अपने बयान में बेलारूस के ख़िलाफ़ सख़्त क़दम उठाने की बात कही है। जेन साकी ने अपने बयान में कहा है कि 23 मई को आयरलैंड की एयरलाइंस रायनएयर की फ़्लाइट का रूट बदलना और पत्रकार एक्टिविस्ट रोमान प्रोतासेविच को गिरफ़्तार करना, अंतरराष्ट्रीय नियमों का खुला उल्लंघन है। 

अमेरिका ने हाल के हफ़्तों में बेलारूस के ख़िलाफ़ कई क़दम उठाए हैं। अमेरिका ने कहा है कि वो बेलारूस में अलेक्जेंडर लुकाशेंको शासन के अहम सदस्यों पर प्रतिबंध लगाने के लिए यूरोपीय यूनियन के साथ मिलकर काम कर रहा है।

यूपी: कार्यकारिणी के सदस्यों की अहम बैठक हुईं

अश्वनी उपाध्याय              

मुरादनगर। जनपद में शनिवार को उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल की कार्यकारिणी के सदस्यों की एक अहम मीटिंग हुई। इसमें जिले के पदाधिकारियों से विचार-विमर्श करने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम ज्ञापन सौंपने को बात तय हुई। उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार मंडल के मुरादनगर अध्यक्ष शहजाद चौधरी का कहना है कि बीते साल कोरोना महामारी के कारण हुई नुकसान की भरपाई व्यापारी अभी तक भी नहीं कर पाये हैं। इस वर्ष भी कोरोना महामारी के कारण व्यापारियों पर फिर से संकट आ गया है। ऐसे मे कुछ व्यापारियों के लिए अब दोबारा से कारोबार शुरू करना मुश्किल होगा। अगर अभी भी लॉकडाउन नहीं खुला, तो व्यापारी पूरी तरह से बर्बाद हो जाएंगे।

1 वर्ष में महंगाई की मार ने जनता की तोड़ीं कमर

अकांशु उपाध्याय                 

नई दिल्ली। पिछले 1 वर्ष में महंगाई की मार ने आम जनता की कमर तोड़ दी है। आम आदमी को अपना घर चलाना मुश्किल हो रहा है। हर चीज के मूल्यों में लगभग वृद्धि हो रही है। ऐसे में आम जनता को राहत मिले तो कैसे ? कभी-कभी तो लगता है, सरकार का भी महंगाई पर नियंत्रण नहीं है। अब आप सरसों के तेल को ही ले लीजिए पिछले एक साल में ही दाम लगभग दोगुने हो चुके हैं। पिछले 1 वर्ष की बात करें तो सरसों के तेल के दामों में भी निरंतर वृद्धि हुई है। सरसों के तेल से अलग अगर बात की जाए तो आप पेट्रोल-डीजल के मूल्यों को भी देख सकते हैं। पेट्रोल और डीजल के मूल्य में भी निरंतर बढ़ोतरी जारी है।

हालांकि, जब देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए थे। उस समय भी मूल्य में वृद्धि जारी थी। मगर देश की जनता ने जब पेट्रोल डीजल को लेकर सोशल मीडिया से लेकर विभिन्न माध्यमों से सरकार को चेताया तो सरकार की आंखें खुल गई। उसे अपनी कुर्सी का डर सताने लगा। उस समय पेट्रोल डीजल के दामों में वृद्धि बिल्कुल रुक गई।जैसे ही विधानसभा के चुनाव खत्म होते ही फिर से पेट्रोल-डीजल के दामों में वृद्धि होती चली गई। विधानसभा चुनाव के समय पेट्रोल डीजल के दामों में वृद्धि प्रयोग है या संयोग यह आप खुद अंदाजा लगा सकते हैं।

अनाथ बच्चों को लेकर हरकत में आईं राज्य सरकारें

अकांशु उपाध्याय              

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की चपेट में आकर मां-बाप की मौत हो जाने से अनाथ हुए बच्चों को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी किए गए निर्देशों के बाद राज्य सरकारें हरकत में आ गई हैं। तमिलनाडु सरकार ने ऐसे बच्चों को 500000 रूपये की सहायता राशि दिए जाने की घोषणा की है। देशभर में वैश्विक महामारी के रूप में आई कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने लोगों के सामने अनेक तरह की कठिन परिस्थितियां उत्पन्न कर दी है। पिछले दिनों में रोजाना कोरोना संक्रमण के लाखों मामले सामने आए तो अभी तक 300000 से अधिक लोगों की जान भी कोरोना की चपेट में आकर जा चुकी है। 

कोरोना से प्रभावित होने वालों में ऐसे बच्चे भी शामिल हैं। जिन्होंने अपने माता पिता को वैश्विक महामारी कोरोना की वजह से खो दिया है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना से अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को भरण-पोषण के लिए 5000 रूपये की पेंशन दिए जाने की घोषणा की है। सुप्रीत कोर्ट के आदेशों के बाद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने भी ऐसे बच्चों को 500000 रूपये की मुआवजा राशि दिए जाने की घोषणा की है। इसके अलावा महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ हुई बैठक में उन बच्चों के लिए एक नीति तैयार करने के निर्देश दिए हैं। जिन्होंने कोरोना के कारण अपने माता पिता को खो दिया है। उद्धव ठाकरे ने ऐसे बच्चों की परवरिश और शिक्षा के प्रावधान की चिंता करने की बात कही है। उधर बिहार सरकार ने भी कोरोना संक्रमण की वजह से अपने माता पिता को गंवाने वाले बच्चों की सहायता के लिए आगे आई है। बिहार की नीतीश कुमार सरकार अनाथ हुए सभी बच्चों को 18 साल के होने तक हर महीने 1000 रूपये की सहायता राशि देगी। यह राशि समाज कल्याण विभाग की तरफ से बच्चों को दी जाएगी। बच्चों को मदद पहुंचाने के लिए समाज कल्याण विभाग ने सभी जिलाधिकारियों को बच्चों से आवेदन लेने के निर्देश दिए हैं।

लोगों के लिए काम करने की इजाजत दें सरकार

मिनाक्षी लोधी               

कोलकाता। भाजपा के नेतृत्व वाले केंद्र पर “बदले की राजनीति” का आरोप लगाते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को केंद्र सरकार से अनुरोध किया कि वह मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय को बुलाने के फैसले को वापस ले और वरिष्ठ नौकरशाह को कोविड-19 संकट के दौरान लोगों के लिए काम करने की इजाजत दे। 

उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह उनकी सरकार के लिये हर कदम पर मुश्किल पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। क्योंकि वे अब भी विधानसभा चुनावों में भाजपा की हार को पचा नहीं पाए हैं। बनर्जी ने आगे कहा कि अगर बंगाल की वृद्धि और विकास के लिये उनसे मोदी के चरण छूने को कहा जाएगा तो वह इसके लिये तैयार हैं।

कौशाम्बी: डीएम ने कोरोना पर ग्रामीणों से चर्चा की

कौशाम्बी। जिलाधिकारी कौशांबी सिराथू तहसील के निन्धियावा गांव पहुंचे हैं और वहां पर प्राइमरी स्कूल में कैंप लगाकर उन्होंने कोविड 19 से बचाव के तौर-तरीकों पर ग्रामीणों से चर्चा की है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 की बैक्सीन ग्रामीण लगवाएं साथ ही इस मौके पर जिलाधिकारी ने कहा कि गांव में ग्राम समाज की भूमि पर अवैध कब्जे को उप जिलाधिकारी ग्राम प्रधान के सहयोग से खाली कराया जाए साथ ही उन्होंने कहा कि ग्राम पंचायत की कार्ययोजना में शामिल कर गांव में खेल के मैदान को विकसित किया जाए और गांव में स्ट्रीट लाइट लगवाया जाए उन्होंने कहा कि विकास कार्यो में किसी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नही की जाएगी। इस मौके पर उप जिलाधिकारी कड़ा वीडियो श्वेता सिंह सहित ग्राम प्रधान गांव की आमजनमानस मौजूद रही। 

टिड्डी दल के संभावित आक्रमण को लेकर कृषकों एडवाइजरी जारी कर बताया गया कि संयुक्त राष्ट्र के खाद्य एवं कृषि संगठन से जारी पूर्व अनुमान के अनुसार राजस्थान में टिड्डी दल के आक्रमण की संभावना व्यक्त की गई है। उसके मद्देनजर जनपद में भी निगरानी की जाय ताकि किसी भी स्तर के प्रकोप की दशा में समय से टिड्डी दल पर नियंत्रण पाया जा सके। टिड्डी दल के प्रकोप की दशा में तमाम तरह के उपाय पटाखे टिन के डब्बों में आवाज सहित तमाम कीटनाशक रासायनिक  सुझाव ,बलुई मिट्टी में टिड्डियों के प्रजनन  की संभावना अधिक होती है। इसलिए ऐसी अवस्था में खेतों में पानी भर दिए जाय।
सन्तलाल मौर्य 

हापुड़: गंदगी को लेकर महिलाओं ने किया प्रदर्शन

अतुल त्यागी              
हापुड़। पीने के पानी की समस्या और क्षेत्र में फैली गंदगी को लेकर महिलाओं ने प्रदर्शन किया। नगर पंचायत का घेराव कर अधिशासी अधिकारी नमिता चौधरी के खिलाफ जमकर की नारेबाजी, अधिशासी अधिकारी पर अपने अधीनस्थ कर्मचारियों द्वारा महिलाओं से अभद्रता करवाने का आरोप। लोगों की समस्या बिना सुने ही अपनी कार्यालय के अंदर चली गई अधिशासी अधिकारी। कर्मचारियों पर लोगो को कार्यालय के अंदर जाने से रोकाने का भी आरोप। कोरोना काल में भी क्षेत्र में बीते 3 महीने से साफ-सफाई और सैनिटाइजेशन न होने से जनता में रोष।

कांग्रेस और राहुल 'समसामयिक'

कॉंग्रेस और राहुल   'समसामयिक'
बैक फुट की जगह अब फ्रंट फुट पर दिखाई देने लगे !
 2014 के बाद 7 साल में यदि राजनीतिक परिपेक्ष में कॉन्ग्रेस और राहुल गांधी का राजनीतिक विश्लेषण करें तो, दोनों का ज्यादातर समय बैकफुट पर खेलते हुए दिखाई दिया। ऐसा भी नहीं था कि राहुल गांधी और कांग्रेस ठीक से नहीं खेलें। उन्होंने 7 सालों में कई बार चौके और छक्के भी मारे। लेकिन वह या तो रन आउट  होते हुए दिखाई दिए या फिर केंद्र की सत्ताधारी भाजपा सरकार के नेताओं ने उन्हें कैच आउट कर दीया।
 नोटबंदी, जीएसटी, राफेल सौदा, भारत-चीन तनाव, समान नागरिकता बिल, तीन कृषि बिल जैसे मुद्दों को लेकर राहुल गांधी ने खूब चौके छक्के मारे। लेकिन वह या तो रन आउट हुए या फिर सरकार में बैठे नेताओं ने  कैच लपक कर आउट कर दिया।
लेकिन कोविड-19 एक ऐसा मैच बनकर आया, जिसमें राहुल गांधी खूब चौके छक्के मार रहे हैं। सत्ताधारी भाजपा ना तो राहुल गांधी को रन आउट कर पा रही है और ना ही उनका कैच लपक पा रही है। बल्कि, भाजपा सरकार ही राहुल गांधी को जमकर खेलने का मौका दे रही है ? कोविड-19 के आगमन से लेकर अभी तक राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा सरकार को कोरोना महामारी के  बढ़ते प्रकोप को लेकर निरंतर आगाहा करते आ रहे हैं और बीमारी से किस प्रकार से निपटा जाए इसके लिए वह सुझाव भी दे रहे हैं। मगर भाजपा सरकार में बैठे नेता ना केवल राहुल गांधी के सुझाव को दरकिनार कर रहे हैं। बल्कि राहुल गांधी का मजाक भी बनाते हुए दिखाई दिए। 
मौजूदा वक्त में राहुल गांधी अच्छी बैटिंग इसलिए भी कर रहे हैं। क्योंकि दूसरे छोर पर श्रीमती प्रियंका गांधी  राहुल गांधी का मजबूती के साथ खड़े होकर साथ दे रही हैं।
 राहुल गांधी रन आउट और कैच आउट इसलिए भी हो जाते थे क्योंकि नोटबंदी को यदि छोड़ दे तो, भाजपा सरकार ने अन्य जिन योजनाओं पर काम कर लागू किया है। वह योजनाएं कांग्रेस शासन के समय से अटकी पड़ी हुई थी। उन्हें भाजपा ने सत्ता में आकर लागू किया, जिसमें जीएसटी, एफडीआई, समान नागरिकता बिल, कृषि कानून, धारा 370 और राफेल विमान सौदा जैसे अनेक योजनाएं थी जो लंबित पड़ी हुई थी। जिन्हें भाजपा ने सत्ता में आकर लागू किया।
जब कॉन्ग्रेस और उसके नेता राहुल गांधी इन योजनाओं का विरोध करते थे या हैं तो भाजपा के नेता इन योजनाओं को कांग्रेस शासन काल की लंबित योजनाएं बताकर कांग्रेस और राहुल गांधी को चुप करा दिया करते थे। और कांग्रेस बैकफुट पर आ जाया करती है। लेकिन कोरोना महामारी ने कांग्रेस और राहुल गांधी को फ्रंट फुट पर खेलने का मौका दे दिया है। भाजपा के नेताओं के पास इसका तोड़ अभी तक नजर नहीं आ रहा है। जबकि कांग्रेस के पास कहने के लिए और भाजपा सरकार का विरोध करने के लिए बहुत कुछ है। क्योंकि देश में आजादी के बाद बीमारियां और महामारी पहले भी आए हैं। तब सीमित संसाधन और सीमित धन होने के बाद भी कांग्रेस सरकार ने बीमारियों और महामारियो का जमकर मुकाबला किया और जनता को मुफ्त में दवाइयां और मुफ्त टी के भी लगवाए थे।
 28 मई शुक्रवार को राहुल गांधी ने एक बार फिर से प्रेस वार्ता की और सरकार को सुझाव देकर घेरा भी, लेकिन पूर्व की तरह शुक्रवार को भी भाजापा के बड़े नेता राहुल गांधी की काट के लिए पत्रकारों के सामने आए।
कोविड-19 में राहुल गांधी के द्वारा भाजपा सरकार के खिलाफ उठाए गए मुद्दे और सरकार को दिए गए सुझाव इस समय जनता के दिलों दिमाग में छा गए हैं। जनता को लगने लगा है कि राहुल गांधी ठीक कह रहे हैं। लेकिन सरकार मान नहीं रही है, भाजपा के रणनीतिकार ही क्या राहुल गांधी को राजनीतिक ताकत दे रहे हैं। यह बड़ा सवाल है ? राहुल गांधी इस समय पूर्ण कालीन राजनीति भी करते हुए दिखाई दे रहे हैं। जबकि उन पर पहले आरोप लगता था कि राहुल गांधी अवसर देखकर राजनीति करते हैं। क्योंकि राहुल गांधी कई मौकों पर देश से नदारद हो जाते थे।
 देवेंद्र यादव 

निकम्मेपन के खुलासे से हांफ रहा स्वास्थ्य विभाग

विनोद मिश्रा
बांदा। डीएम आनंद सिंह इन दिनों स्वास्थ विभाग पर कड़ी निगाहें “निगहबान ” किये हुये हैं। इसके चलते जिले का स्वास्थ विभाग निकम्मेपन के खुलासे से “हांफ” रहा है। ऐसा ही एक मामला जब जब डीएम आनंद सिंह नें देखा तो उनकी त्योरियां चढ़ गई।
दरअसल, डीएम आबकारी विभाग का प्रस्तावित आक्सीजन प्लांट लगाने के लिए नरैनी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र का निरीक्षण करने गये थे।वहां सफाई व्यवस्था पर असंतोष जताते हुए 50 बेडों के लिए चिन्हित कक्षों और आक्सीजन पाइपलाइन बिछाने का मानचित्र शीघ्र उपलब्ध कराने को कहा ।सफाई व्यवस्था के लिये अधीक्षक को निर्देश दिये।नरैनी से बांदा लौटते समय जिलाधिकारी सिंह ने देवरार गांव स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बन्द मिला। इस नजारे ने जिलाधिकारी को आश्चर्य में डाल दिया। उन्होंने नाराजगी व्यक्त कर साथ चल रहे मुख्य चिकित्साधिकारी एनडी शर्मा को निर्देशित किया कि सम्बंधित प्रभारी चिकित्साधिकारी समेत सभी कर्मचारियों का स्पष्टीकरण तत्काल प्रस्तुत किया जाए। डीएम आनंद सिंह के कठोर रुख से आजकल स्वास्थ विभाग हांफ रहा है। उनमें भय है कि लापरवाही मिली कि कार्यवाई हुई।

30 लीटर अवैध शराब, 5 कुन्तल लहन किया नष्ट

जब घर छोड़ भागे अवैध शराब कारोबारी
शराब कारोबारियो के धंधे पर पुलिस की सख्ती,सर्किल ऑफिसर ने कोतवाली पुलिस के साथ मारा छापा
30 लीटर शराब लगभग 5 कुन्तल अर्धनिर्मित लहन पुलिस ने कराया नष्ट
अझुवा कौशाम्बी। पुलिस अधीक्षक अभिनंदन सिंह के निर्देशानुसार सर्किल ऑफिसर योगेंद्र कृष्ण नारायण की मार्गदर्शन में सैनी कोतवाल तेजबहादुर सिंह ने मय हमराहियों नगर पंचायत अझुवा के सबसे बड़े अवैध शराब कारोबार में शुमार वार्ड नं 3 शान्ति नगर में छापा मार कर कई कुन्तल अर्धनिर्मित शराब लहन नष्ट करवाया एवं 30 लीटर अवैध शराब बरामद कर कुछ मदिरा का सेवन करने वालों को मौके से उठा ले गयी इस दौरान अवैध शराब कारोबारी घर छोड़कर फरार हो गए थे कुछ घर खुले मिल गए थे जहां कनस्तरों और छोटे ड्रमों में लहन भर कर जमीन में गाड़ दिए थे जिसे चालाक पुलिसकर्मियों ने खोदकर मिट्टी पानी कचड़ा मिला कर नष्ट कर दिया पूरे अझुवा क्षेत्र के अवैध शराब कारोबारी खेतो की तरफ भाग गए थे कुछ भी हो जिले के पुलिस कप्तान की इसी सतर्कता का परिणाम है जिले में अवैध शराब के सेवन से एक भी मौत सुनने देखने को नही मिली हैं।
इस छपामार अभियान में कोतवाल तेजबहादुर सिंह अझुवा चौकी इंचार्ज हरि कुमार सिंह उपनिरीक्षक केदारनाथ रॉय, उपनिरीक्षक अजहर जमाल,उपनिरीक्षक भगवान दास सहित भारी पुलिस बल मौजूद रहा!!
सन्तलाल मौर्य

महामारी: छात्रों से हास्टल खाली करने का आग्रह

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने छात्रों से हास्टल खाली करने का किया आग्रह
अलीगढ़। कोविड-19 महामारी से छात्रों को सुरक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने अपने छात्रों को छात्रावास खाली करके अपने घरों को लौटने का आग्रह किया है। यह निर्णय गुरुवार को कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर की अध्यक्षता में होने वाली प्रोवोस्ट्स और विश्वविद्यालय के अन्य अधिकारियों की एक ऑनलाइन बैठक के दौरान लिया गया। जिन छात्रावासों में वर्तमान में छात्र रह रहे हैं उनके प्रोवोस्ट द्वारा उन छात्रों के माता-पिता को एक अलग पत्र भेजा जाएगा। ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनके बच्चे छात्रावास खाली कर अपने घर वापस लौट जाएं। छात्रों के माता-पिता को यह पत्र ईमेल और डाक द्वारा भी भेजे जाएंगे। महामारी के मद्देनजर छात्र के स्वास्थ्य की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए यह आवश्यक है। बैठक के दौरान कुलपति ने सभी स्टाफ सदस्यों से कोविड का टीका लगवाने की भी अपील की। इसके सहित सभी विभागों, संकायों तथा कार्यालयों के प्रमुखों को भी सलाह दी गई है कि वे अपने कर्मचारियों को कोविन ऐप पर कोविड के टीकाकरण के लिए पंजीकरण कराने को प्रेरित करें और उन्हें जल्द से जल्द टीका लगवाएं।

पूर्व प्रधानमंत्री की पुण्यतिथि मनाई, श्रद्धांजलि अर्पित

ललितपुर। समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. की अध्यक्षता में स्टेशन रोड स्थित कार्यालय पर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री किसानों के मसीहा स्व.चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि सादगी पूर्वक मनायी गयी। इस दौरान वक्ताओं ने अपने विचारों को रखते हुये कहा कि किसानों की आवाज को सड़क से संसद तक उठाने और किसानों के हर सुख-दुख में संघर्षरत रहने वाले चौधरी चरण सिंह ने भारत के प्रधानमंत्री पद का भी निर्वाह्न किया।
सपा जिलाध्यक्ष तिलक यादव एड. ने कहा कि चरण सिंह का जन्म एक जाट परिवार मे हुआ था। स्वाधीनता के समय उन्होंने राजनीति में प्रवेश किया। इस दौरान उन्होंने बरेली कि जेल से दो डायरी रूपी किताब भी लिखी। स्वतन्त्रता के पश्चात् वह राम मनोहर लोहिया के ग्रामीण सुधार आन्दोलन में लग गए। बाबूगढ़ छावनी के निकट नूरपुर गांव, तहसील हापुड़, जनपद गाजियाबाद, कमिश्नरी मेरठ में काली मिट्टी के अनगढ़ और फूस के छप्पर वाली मढ़ैया में 23 दिसम्बर,1902 को आपका जन्म हुआ। चौधरी चरण सिंह के पिता चौधरी मीर सिंह ने अपने नैतिक मूल्यों को विरासत में चरण सिंह को सौंपा था। चरण सिंह के जन्म के 6 वर्ष बाद चौधरी मीर सिंह सपरिवार नूरपुर से जानी खुर्द के पास भूपगढी आकर बस गये थे। यहीं के परिवेश में चौधरी चरण सिंह के नन्हें ह्दय में गांव-गरीब-किसान के शोषण के खिलाफ संघर्ष का बीजारोपण हुआ। इस दौरान जीतू सरदार, खुशालचंद्र साहू, अमर सिंह भैंरा, अशोक अहिवार, राजेश झोजिया, सुरेन्द्र पाल सिंह, विजय सिंह शिक्षक, राजेन्द्र लखनपुरा, प्रदीप जैन चिगलौआ, डा.महेश झां, राजेन्द्र शिक्षक, लाखन स्वामी, राजीव दौलता, जयसिंह तिंदरा, बद्री अहिरवार, रमन सिंह, बलराम यादव, बन्दू घोष आदि मौजूद रहे।

पूर्व पीएम की 34 वीं पुण्यतिथि मनाई, सच्चे हमदर्द

झांसी। जनपद में आज बेतवा भवन में देश के भूतपूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण स‍िंह की 34 वीं पुण्यतिथि मनाई किसानों के सच्चे हमदर्द थे। जात-पात में विश्वास नहीं रखते थे। किसानों की जमीनी हकीकत से पूरी तरह से वाकिफ रहते थे। यही वजह थी कि किसानों के लिए पूरे मनोयोग से काम व दुलार करते तो गलतियों पर डांटने में भी गुरेज नहीं करते थे। जिले के खेड़ीकरमू गांव निवासी लोकतंत्र सेनानी शक्ति स‍िंह अपने साथियों के साथ जब दिल्ली उनसे मिलने पहुंचे तो चौधरी साहब ने उन्हें खूब डांट लगाई। बोले कि जब पांच पैसे के पोस्टकार्ड भेजकर तुम्हारी समस्या हल हो सकती थी, तो तुम 120 रुपये खर्च कर दिल्ली क्यों आए।
अशोक कुमार निरंजन प्रदेश सचिव राष्ट्रीय लोक दल एवं पूर्व उपाध्यक्ष बंधु झांसी ने बताया कि नवनिर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी किसानों के साथ हैं और उन्होंने किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने का भी एलान किया। चौधरी चरण सिंह बेतबा भवन झांसी में कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह की पुण्यतिथि मनाई।


इस अवसर पर युवा जिला अध्यक्ष नीरज पटेल झांसी, राकेश कुशवाहा जिला महासचिव झांसी, रामहेत कुशवाहा, ठाकुर दास अहिरवार, सुरेंद्र पाल, नीरज यादव, शिशुपाल पटेल, थान सिंह, भगवतशरण नामदेव ,जितेंद्र नामदेव जय शंकर यादव आदि कार्यकर्ता गण उपस्थित रहे।

रिपोर्टर-राजेश कुशवाहा

मांग: रेमडेसिवीर के आवंटन पर केंद्र ने रोक लगाई

अकांशु उपाध्याय  

नई दिल्ली। मांग से अधिक आपूर्ति के बाद केंद्र ने राज्यों को दी जाने वाली एंटी-वायरल दवा रेमडेसिविर के आवंटन पर रोक लगा दी है। केंद्रीय मंत्री मनसुख मंडाविया ने शनिवार को यह जानकारी दी। मंडाविया ने ट्वीट कर कहा, ” अब देश में पर्याप्त मात्रा में रेमडेसिविर उपलब्ध है क्योंकि मांग की तुलना में आपूर्ति काफी अधिक है। इसलिए, हमने राज्यों को किए जाने वाले रेमडेसिविर के केंद्रीय आवंटन को रोकने का फैसला किया है।”

उर्वरक एवं रसायन राज्य मंत्री ने इस बात का भी जिक्र किया कि कोविड-19 के उपचार में उपयोग होने वाली इस दवा की आपूर्ति में खासा सुधार हुआ है, जहां 11 अप्रैल को रेमडेसिविर की प्रतिदिन 33,000 शीशी की आपूर्ति थी, वहीं अब यह 10 गुना से अधिक बढ़कर 3,50,000 शीशी प्रतिदिन हो गई है। उन्होंने कहा कि सरकार ने एक महीने के भीतर रेमडेसिविर का निर्माण करने वाली इकाइयों की संख्या 20 से बढ़ाकर 60 कर दी। मंडाविया ने यह भी कहा कि सरकार ने आपातकालीन स्टॉक के तौर पर रेमडेसिविर की 50 लाख शीशियां खरीदने का भी फैसला लिया है।

वैक्सीनेशन ही प्रसार और म्यूटेशन का कारण बना

नई दिल्ली। यह सवाल बार बार हम सबके दिमाग मे आता है लेकिन वैज्ञानिक बिरादरी से जुड़ा हुआ कोई भी शख्स इसकी पुष्टि करना तो दूर इस पर बात तक नही करता लेकिन अब एक ऐसे वायरोलिस्ट सामने आए हैं जिन्होंने बहुत स्पष्ट रूप से कह दिया है कि कोविड का टीकाकरण ही नए वेरिएंट के उत्पन्न होने के पीछे का सबसे बड़ा कारण है।हम बात कर रहे है फ्रांस के जाने माने वायरोलिस्ट प्रोफेसर ल्यूक मॉन्टैग्नियर की। मॉन्टैग्नियर कोई छोटे मोटे वायरोलिस्ट नही हैं। इन्होंने एचआईवी वायरस की खोज के लिए फ्रांकोइस बर्रे-सिनौसी और हेराल्ड ज़ूर हॉसन के साथ चिकित्सा के क्षेत्र में 2008 का नोबेल पुरस्कार जीता था। इसलिए आप उनकी बातों को आसानी से खारिज नही कर सकते।दरअसल मॉन्टैग्नियर ने ये बड़े खुलासे इस महीने के शुरुआत में दिए एक साक्षात्कार में किए लेकिन चर्चा में नही आ पाए। इस साक्षात्कार की क्लिप को अमेरिका के आरएआईआर फाउंडेशन ने विशेष तौर पर ट्रांसलेट किया जिसके बाद उनका वीडियो अब सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है ल्यूक मॉन्टैग्नियर ने इसमे साफ साफ कहा है कि ये टीकाकरण ही है, जिसके कारण वेरिएंट उत्पन्न हो रहे हैं।

वीडियो में जब कि मॉन्टैग्नियर से सवाल पूछा गया कि टीकाकरण शुरू होने से बाद से जनवरी से नए मामले और मौत के आंकड़े तेजी से बढ़ रहे हैं, खासतौर पर युवाओं में तो इसपर आप क्या कहते हैं? इसके जवाब में मॉन्टैग्नियर ने कहा कि यह एक ऐसी वैज्ञानिक, मेडिकल गलती है जिसे स्वीकार नहीं किया जा सकता इसे इतिहास में दिखाया जाएगा क्योंकि टीकाकरण ही नए वेरिएंट उत्पन्न कर रहा है। चीनी वायरस के लिए एंटीबॉडी हैं, जो वैक्सीन से आती हैं तो वायरस क्या करता है? क्या वो मर जाता है? या कोई और रास्ता ढूंढता है ?

वह इसका उत्तर देते हुए आगे कहते हैं कि तब नए तरह के वेरिएंट उत्पन्न होते हैं और ये टीकाकरण का परिणाम है। वैक्सीन एंटीबॉडी बनाती हैं, जो वायरस को कोई दूसरा रास्ता खोजने या मरने पर विवश करती हैं और इसी के चलते नए वैरिएंट उत्पन्न होते हैं।

वे कहते है कि आप देख सकते हैं, ये हर देश में एक जैसा ही है। टीकाकरण का ग्राफ मौत के ग्राफ के साथ चल रहा है। मैं नजदीक से इसका अनुसरण कर रहा हूं और संस्थानों में मरीजों के साथ प्रयोग कर रहा हूं। जो वैक्सीन लगने के बाद संक्रमित हुए हैं। इससे पता चलता है कि वो ऐसे वेरिएंट बना रहे हैं, जिन पर वैक्सीन कम प्रभावी है। उन्होंने बताया कि इस घटना को एंटीबॉडी-डिपेंडेंट एनहैंसमेंट कहा जाता है। वे कहते हैं कि महामारी विज्ञानियों को वैक्सीन से जुड़े तथ्यों के बारे में पता है लेकिन फिर भी वे खामोश हैं।

दरअसल डब्लू एच ओ समर्थित वैज्ञानिक समुदाय को पसंद नही करता है क्योंकि उन्होंने पिछले साल अप्रैल 2020 में एक फ्रेंच चैनल को दिए गए एक साक्षात्कार के दौरान दावा किया था कि वायरस, जो कोरोना संक्रमण का कारण बनता है, एक चीनी प्रयोगशाला में एचआईवी के खिलाफ एक टीका बनाने के प्रयास का परिणाम था।

मॉन्टैग्नियर ने कोरोनावायरस के जीनोम में एचआईवी के तत्वों और यहां तक कि “मलेरिया के रोगाणु” के तत्वों की उपस्थिति की ओर भी इशारा किया था। उन्होंने कहा कि नए कोरोना वायरस की ऐसी विशेषताएं स्वाभाविक रूप से उत्पन्न नहीं हो सकती हैं। एचआईवी आनुवंशिक अनुक्रमों को वायरस में डाला गया था। यह अत्यधिक परिष्कृत कार्य है।” अगर कोई एड्स वायरस पर ही शोध करते हुए नोबेल पुरस्कार जीतता है और वो इस तरह का दावा करता है तो उसे सीरियसली लेना चाहिए लेकिन उनकी बातों को खारिज कर दिया गया और अब उन्होंने कोरोना वायरस के नए वेरियंट बनने के बारे यह दावा किया है आपको याद होगा कि बेल्जियम के एक बड़े वायरोलिस्ट गुर्ट वांडन बुशा ने दावा किया था कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ जो मास वैक्सीनेशिन अभियान चलाया है वो एक तरह का ब्लंडर साबित होने जा रहा है। उनका भी मानना था कि एक महामारी के दौरान मानव हस्तक्षेप जैसे मास वैक्सीनेशन हमेशा मददगार नहीं होते हैं, या यहां तक कि प्रतिशोधी भी होते हैं, उन्हें ऐसे वेरिएंट के उद्भव के पक्ष में माना जाता है जो मूल वायरस की तुलना में बहुत अधिक खतरनाक और संक्रामक हैं।

बड़े पैमाने पर टीकाकरण प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर करेगा और वायरस के उत्परिवर्तन को तेज करेगा। इस घटना का नाम इम्यून स्केप है। गुर्ट वांडन बुशा का मानना था कि महामारी के बीच मास वैक्सीनेशिन अभियान बेहद खतरनाक है। “बड़े पैमाने पर टीकाकरण से, वायरस तेजी से उत्परिवर्तन की रणनीति को अपनाएगा और युवा आबादी में प्रसार को बढ़ाएगा। उन्होंने यह भी कहा था कि “these immune escapes could cause an infectious wave ”unstopable” and cause the death of an important part of humanity.

यानी यह दोनों बड़े वायरोलिस्ट लगभग एक जैसी ही बाते कह रहे हैं, लेकिन कोई मान नही रहा है सब वैक्सीनेशन के पीछे पड़े हैं। मॉन्टैग्नियर सही रहे हैं कि इतिहास ही बताएगा कि कौन सही कह रहा था।

गिरीश मालवीय

दिल्ली में संक्रमण दर घटकर 1.19 प्रतिशत रही

सत्येंद्र ठाकुर   

नई दिल्ली। दिल्ली में शनिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 956 नये मामले सामने आए, जो लगभग पिछले दो महीने में दर्ज किए गए मामलों की सबसे कम संख्या रही। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े में यह जानकारी दी गई है। इसके अनुसार इस महामारी से 122 और मरीजों की मौत हुई जबकि संक्रमण दर घटकर 1.19 प्रतिशत हो गई।

दिल्ली में 22 मार्च को इस संक्रमण के 888 मामले दर्ज किये गये थे और इसके बाद से पहली बार एक दिन में एक हजार से कम मामले सामने आये हैं। स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन के अनुसार, इस महामारी से 122 और मरीजों की मौत होने से दिल्ली में मृतकों की संख्या बढ़कर 24,073 पर पहुंच गई। बृहस्पतिवार को कोविड-19 के 1,072 मामले सामने आये थे और 117 मरीजों की मौत हुई थी जबकि संक्रमण दर 1.53 प्रतिशत थी। शुक्रवार को 1,141 मामले सामने आये थे और 139 लोगों की मौत हुई थी, जबकि संक्रमण की दर 1.59 प्रतिशत थी।

यूपी में 1 जून से शुरू होगी अनलॉक की प्रक्रिया

संदीप मिश्र  

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार कोरोना के घटते मामलों को देखते हुए प्रदेशवासियों को कुछ राहत देने का मन बना रही है। शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संक्रमण की रफ्तार को लेकर समीक्षा की। जिसमें यह निर्णय लिया गया 1 जून से प्रदेश में कुछ प्रतिष्ठानों को शर्तों के साथ खोलने की छूट दे दी जाएगी। इसके अलावा रात्रिकालीन कोविड कर्फ्यू जारी रहेगा। उन जिलों में कोई राहत नहीं दी जाएगी, जहां कोरोना संक्रमण की रफ्तार यथावत बनी हुई है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को टीम-9 के साथ समीक्षा बैठक में कोरोना कर्फ्यू पर प्रमुखता से चर्चा की और इस दौरान कोरोना कर्फ्यू में ढील देने पर सहमति बनी। प्रदेश में एक जून से उद्योग, दुकान तथा बाजारों को राहत दी जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने बताया कि प्रदेश में अधिक एक्टिव केस वाले जिलों में अभी राहत नहीं दी जाएगी, जबकि नाइट कर्फ्यू हर जिले में जारी रहेगा।

चरणबद्ध ढंग से खोला जाएगा कोरोना कर्फ्यू

कोरोना वायरस संक्रमण काल में प्रदेश में लागू कोरोना कर्फ्यू इस बार भी चरणबद्ध ढंग से खोला जाएगा। प्रदेश में अब 24 घंटे में दो हजार तक नए संक्रमित आने से इसका प्रभाव कुछ कम होने लगा है। रिकवरी रेट भी 97 प्रतिशत तक पहुंचने के बाद अब सरकार जनता को राहत देने के मूड में है। प्रदेश में कोविड पॉजिटिविटी रेट 22 से घटकर एक प्रतिशत रह गई है। एक जून से राज्य में चरणवार कोरोना कर्फ्यू खोला जाएगा। सुबह सात बजे से रात आठ बजे तक तमाम बंदिशों से पाबंदी हटाई जा रही है। इस दौरान वीकेंड और नाइट कर्फ्यू अभी भी जारी रहेगा।

एक जून से इनको मिलेगी छूट

सरकार कई जगह पर छूट तो दे रही है, लेकिन सभी जगह पर कोविड प्रोटोकॉॅल यानी मास्क व फिजिकल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन होगा। सरकार कपड़े की दुकान, वैवाहिक वस्तुओं की दुकान, निर्माण से जुड़ी सामग्री की दुकान, 50 प्रतिशत कर्मी क्षमता के साथ बड़ी दुकान या रेस्टोरेंट तथा 33 प्रतिशत कर्मियों के साथ सभी सरकारी तथा प्राइवेट कार्यालय को खोलने की छूट है।

इन पर बरकरार रहेगी रोक

कंटेनमेट जोन की सभी दुकान, शॉपिंग मॉल, फिल्म थिएटर, सैलून तथा सभी प्रकार के सामाजिक, धार्मिक व राजनीतिक कार्यक्रम पर अभी रोक रहेगी।

कालरा ने ‘सफेदपोश अपराध’ को दिया अंजाम

अकांशु उपाध्याय               

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने शनिवार को एक अदालत को बताया कि ऑक्सीजन सांद्रकों की कालाबाजारी मामले में आरोपी कारोबारी नवनीत कालरा ने ‘सफेदपोश अपराध’ (समाज में ऊंची हैसियत व सम्मान रखने वाले शख्स द्वारा किया गया अपराध) को अंजाम दिया और मृत्यु शैय्या पर लेटे मरीजों को अत्यधिक दामों पर चिकित्सा उपकरण बेचकर मुनाफा कमाया। 

हाल ही में एक छापे के दौरान कालरा के रेस्तरां खान चाचा, टाउन हॉल तथा नेगे एंड जू से कोविड-19 मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाले 524 ऑक्सीजन सांद्रक बरामद किए गए थे। रेस्तरां मालिक तीन जून तक न्यायिक हिरासत में है। मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अरुण कुमार गर्ग ने ऑक्सीजन सांद्रकों की कथित जमाखोरी करने और उन्हें ऊंचे दामों पर बेचने के लिए 17 मई को गिरफ्तार किए गए कालरा की जमानत अर्जी पर सुनवाई की।


यूएई में खेले जाएंगे 14वें सीजन के बचें हुए मुकाबलें

अकांशु उपाध्याय          

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन के बचे हुए मुकाबले यूएई में खेले जाएंगे। ये फैसला भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की शनिवार को हुई विशेष आम बैठक में लिया गया। टूर्नामेंट का आयोजन सितंबर-अक्टूबर में होगा। वहीं, बीसीसीआई ने टी20 वर्ल्ड कप के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल से समय मांगा है। बीसीसीआई ने फैसला किया है कि टी20 विश्व कप की मेजबानी पर अंतिम निर्णय लेने से पहले उसे कुछ और समय लगेगा।

बता दें कि आईपीएल के 14वें संस्करण के 31 मैच खेले जाने बाकी हैं। ये सभी मुकाबले यूएई में होंगे। हालांकि तारीख की घोषणा बीसीसीआई ने नहीं की है। कई टीमों में कोरोना के केस सामने आने के बाद आईपीएल-14 को 4 मई को टाल दिया गया था। 2 मई तक कुल 29 मुकाबले खेले गए थे।
आईपीएल-14 के टलने तक दिल्ली कैपिटल्स 8 मैचों में 6 जीत के साथ पहले स्थान पर है। जबकि चेन्नई सुपर किंग्स 5 मैचों में जीत के साथ दूसरे नंबर पर है। विराट कोहली की कप्तानी वाली आरसीबी को भी 5 मैचों में जीत मिली है और वह तीसरे स्थान पर है।

हवा: कोरोना के नए वेरिएंट ने चिंता को और बढ़ाया

हनोई। दुनियाभर में एक ओर जहां कोरोना वायरस का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। वहीं वियतनाम में मिले कोरोना के एक नए वेरिएंट ने चिंता को और बढ़ा दिया है। वियतनाम के स्वास्थ्य मंत्री विएन टान लॉन्ग ने शनिवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वियतनाम में कोरोना वायरस का एक नया वेरिएंट पाया गया है। इससे पहले ब्रिटेन, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका और भारत में कोरोना के वेरिएंट मिल चुके हैं।

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, वियतनाम में कोरोना वायरस का जो वेरिएंट मिला है। वह भारत और ब्रिटेन में पाए गए वेरिएंट का ही मिलता-जुलता रूप है, लेकिन सबसे चिंता की बात यह है कि दूसरे वेरिएंट्स के मुकाबले यह हवा के माध्यम से कहीं ज्यादा तेजी से अपने पांव पसारता है।

पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी

अकांशु उपाध्याय              

नई दिल्ली। देश में पिछले दिनों संपन्न हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के बाद शुरू हुआ पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी का सिलसिला आज भी जारी रहा। सरकारी तेल कंपनियों की ओर से एक बार फिर से आज डीजल पेट्रोल की कीमतों में बढ़ोतरी की गई है। डीजल के दामों में आज 28 से 30 पैसे की बढ़ोतरी हुई है तो वही पेट्रोल की कीमतों में भी 25 से 26 पैसे प्रति लीटर का इजाफा किया गया है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल की कीमत नए कीर्तिमान स्थापित करते हुए 100 रूपये प्रति लीटर के पार पहुंच गई है।

शनिवार को सरकारी तेल कंपनियों की ओर से जारी किए गए दामों में दिल्ली में पेट्रोल का दाम 93.94 पैसे और डीजल का दाम 84.89 पैसे प्रति लीटर रहा। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में पेट्रोल की कीमत 100.19 पैसे प्रति लीटर पहुंच गई है। यहां पर डीजल के दाम भी 92.17 पैसे प्रति लीटर की ऊंचाई पर जाकर जम गए हैं। कोलकाता में डीजल की कीमत 87.74 पैसे और पेट्रोल के दाम 93.97 पैसे रहे। चेन्नई में पेट्रोल के दाम 95.51 पैसे और डीजल 89.65 पैसे प्रति लीटर के दामों पर बिक रहा है। गौरतलब है कि रोजाना सरकारी तेल कंपनियां सवेरे 6.00 बजे पेट्रोल और डीजल के दाम निर्धारित करती हैं। तय की गई कीमते सुबह 6.00 बजे से ही लागू हो जाती हैं। डीजल व पेट्रोल के दाम में एक्साइज ड्यूटी, डीलर कमीशन, और अन्य चीजें जोड़ने के बाद इनका दाम लगभग दोगुना हो जाता है।

'हेल्थ डे': डिसॉर्डर के बारे में जागरूकता बढ़ाई जा सकें

अकांशु उपाध्याय              

नई दिल्ली। वर्ल्ड डाइजेस्टिव हेल्थ डे (डब्ल्यूडीएचडी) हर साल 29 मई को मनाया जाता है। ताकि लोगों में पाचन रोग या डिसॉर्डर के बारे में जागरूकता बढ़ाई जा सके। इस बीमारी या डिसॉर्डर के इलाज, रोकथाम, प्रसार और डायग्नोसिस के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए वर्ल्ड गैस्ट्रोएंटरोलॉजी ऑर्गेनाइजेशन के जरिए इस दिन की शुरुआत की गई थी। वर्ल्ड डाइजेस्टिव हेल्थ डे पहली बार 29 मई, 2005 को मनाया गया था। इस साल की थीम “मोटापा- एक चल रही महामारी” है।

कोरोना काल में इम्यूनिटी के साथ वजन कंट्रोल में रखना बड़ा टास्क है। डायटिग आपको करनी नहीं है क्योंकि कमजोरी के कारण बीमारियां घेर सकती हैं। घर के बाहर टहलना संक्रमण के लिहाज से सुरक्षित नहीं है इसलिए अगर अपनी डाइट में खास मौसमी फलों को शामिल करें तो शरीर को स्वस्थ्य और  स्लिम-ट्रिम बनाकर रख सकते हैं। यह फल कई बीमारियों को भी आपसे दूर रखने के साथ स्ट्रेस से भी कोसों दूर रखते हैं।

फिरोजाबाद को 'कारण बताओ' नोटिस जारी किया

बृजेश केसरवानी                      

प्रयागराज। उच्च न्यायालय ने कहा है कि सेवा पंजिका मे दर्ज जन्मतिथि कर्मचारी और नियोजक दोनों के लिये बाध्यकारी है। कर्मचारी की सेवानिवृति के बाद इसमें कोई परिवर्तन नही किया जा सकता। जन्मतिथि को सेवानिवृति के बाद पुनरीक्षित करना अतार्किक है।शनिवार को सेवानिर्वत्त कर्मचारी से जन्मतिथि के अंतर पर वेतन वापसी मामले की सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट द्वारा एसडीएम शिकोहाबाद, जिला फिरोजाबाद को कारण बताओ नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मागा है कि क्यों न उनके खिलाफ दुर्भावनापूर्ण कार्य करने के तहत उचित कार्यवाही की जाय। हाईकोर्ट ने एसडीएम से 24 जून तक स्पष्टीकरण के साथ व्यक्तिगत हलफनामा मांगा है और याची से पांच साल के वेतन रूपये 27,85,388 की वसूली आदेश व प्रक्रिया को निलंबित कर दिया है। हाईकोर्ट ने अपने निर्देशों में कहा है कि याची से वसूली नही की जायेगी। यह आदेश न्यायमूर्ति जे.जे. मुनीर ने संग्रह अमीन पद से 2015 मे सेवानिवृत्त पेन्शन भोगी बचन सिंह की याचिका पर दिया है।

दरअसल याची 31अक्टूबर 15 को सेवानिवृत्त हुआ। सेवा पंजिका में हाईस्कूल प्रमाणपत्र के आधार पर जन्मतिथि 10 अक्टूबर 1955 दर्ज है। वह इस समय पेन्शन पा रहा है। एसडीएम ने हाईस्कूल के पहले की शिक्षा के कागजों में दर्ज जन्मतिथि 10 अक्टूबर 1950 के आधार पर जन्मतिथि परिवर्तित करने का आदेश दिया और पांच साल अधिक सेवा का वेतन वापसी का निर्देश दिया। तहसीलदार ने वसूली आदेश भी जारी कर दिया। जिसे बचन सिंह द्वारा चुनौती दी गयी है। कोर्ट ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 23मे बेगार लेने पर रोक है। यदि याची से अधिक समय तक काम लिया गया है और वेतन नही दिया जाता तो यह बेगार होगा। उसे अधिक समय तक काम करने का वेतन पाना चाहिए। जबकि इस मामले में उससे वसूली की जा रही है। कोर्ट ने प्रथमदृष्टया एसडीएम के आदेश को विधि विरूद्ध करार दिया है और नोटिस जारी करते हुए जवाब मांगा है। सुनवाई 24 जून को होगी।

ममता का आचरण बंगाल के लोगों का अपमान

सत्येंद्र ठाकुर                 

भोपाल। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में चक्रवाती तूफान यास से हुई तबाही की समीक्षा बैठक में देरी से पहुंचने पर ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान ने कहा है कि उनका आचरण बंगाल के लोगों का अपमान है।शनिवार को मुख्यमंत्री शिवराज चैहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पूरे भारत देश के प्रधानमंत्री हैं। जिसके चलते पूरा देश उन्हें पसंद करता है। प्रधानमंत्री लोगों की भलाई और चक्रवाती तूफान यास से प्रभावित हुए लोगों का हाल-चाल जानने के लिए पश्चिम बंगाल के दौरे पर गए थे। 

लेकिल वहां की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा इस दौरान दिखाया गया आचरण बंगाल के लोगों का अपमान है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान यास से हुई तबाही का जायजा लेने के लिए पश्चिमी मेदिनीपुर जनपद के कालाइकुंडा में समीक्षा बैठक आयोजित की थी। जिसमें पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनना बनर्जी को भी शामिल होना था। हालांकि वह इस बैठक में शामिल तो हुई लेकिन तकरीबन 30 मिनट की देरी के बाद बैठक में पहुंची और चक्रवाती तूफान से हुए नुकसान की रिपोर्ट थमा कर किसी और मीटिंग में शामिल होने की बात कहते हुए चली गई। हालांकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इंतजार कराने और मीटिंग के दौरान वहां से चले जाने के मामले पर ममता बनर्जी ने अपनी सफाई देते हुए कहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी ने मीटिंग बुलाई थी। मुझे इस बात की जानकारी नहीं थी। इस बीच मेरी एक बैठक दीघा में आयोजित थी। मैंने प्रधानमंत्री को रिपोर्ट सौंपी और उन से राज्य में हुए नुकसान की भरपाई के लिए 20000 करोड रुपए की मदद की मांग की है। प्रधानमंत्री से 10000 करोड रुपए की मदद दीघा के विकास के लिए और इतनी ही धनराशि सुंदरबन के विकास के लिए मांगी है।

गृह मंत्रालय की तरफ से नोटिफिकेशन जारी हुआ

अकांशु उपाध्याय                

नई दिल्ली। नागरिक संशोधन कानून को लेकर मचे बवाल के बाद अब गृह मंत्रालय की तरफ से एक गैजेट नोटिफिकेशन भी जारी कर दिया है। 28 मई को जारी हुए इस गैजेट में अफगानिस्तान,बांग्लादेश और पाकिस्तान से गैर मुस्लिम समुदाय से भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन मांगे गए हैं। गुजरात,राजस्थान, हरियाणा और पंजाब के 13 जिलों में रह रहे हिंदू,सिख,जैन और बौद्ध जैसे गैर मुस्लिम लोगों से नागरिकता के लिए आवेदन मांगे गए हैं।

सूत्रों के मुताबिक अब जानकारी मिल रही है किसी सीएए के कानून के नियम के तहत नियम तैयार नहीं है। कानून के जरिए नरेंद्र मोदी सरकार ने अफगानिस्तान,बांग्लादेश और पाकिस्तान के हिंदू सिख बौद्ध जैन पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को भारत की नागरिकता देने का अवसर प्रदान किया था। लेकिन इसके नियम अभी तक तैयार नहीं हुए हैं। इसलिए नागरिकता के लिए नोटिस जारी किया गया है। विदित हो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार ने जब सी ए ए कानून लाना चाहा था। उस समय इसका देश में जमकर विरोध हुआ था। मुस्लिम संगठनों गैर सरकारी संगठनों और भारत के विपक्षी पार्टियों ने इस कानून को मुस्लिम के भेदभाव कारी बताते हुए विरोध जताया था कई जगह आगजनी और तोड़फोड़ की घटना में हुई थी। जिसमें पुलिस द्वारा कार्यवाही की गई थी। एमएचए के तरफ से जारी नोटिफिकेशन के अनुसार भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन करने के लिए वे लोग योग्य है। जो गुजरात के मोरबी, राजकोट पाटन, वडोदरा में रह रहे है। इसके अलावा जो शरणार्थी छत्तीसगढ़ में दुर्ग और बलौदा बाजार में रह रहे हैं। राजस्थान में जालौर,उदयपुर पाली, बाड़मेर,सिरोही में रह रहे है वह लोग इसके पात्र हैं। इसके अलावा हरियाणा के फरीदाबाद और पंजाब के जालंधर में आवेदन कर सकते हैं।

नोटिफिकेशन जारी करने में भारतीय नागरिकता कानून 1955 की धारा 16 के तहत मिली शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए केंद्र सरकार ने कानून की धारा 5 के लिए ये कदम उठाया है। इसके अनुसार अफगानिस्तान बांग्लादेश और पाकिस्तान के हिंदू फारसी और अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिक के तौर पर पंजीकृत करने के लिए आवेदन मांगे गए हैं। पंजीकरण ऑनलाइन होगा इसमें कलेक्टर या केवल हरियाणा और पंजाब के गृह सचिव जरूरत पड़ने पर मामलों के हिसाब से आवेदन की जांच कर पाएंगे।

19 दिनों में 15 लाख से अधिक एक्टिव केस हुए

अकांशु उपाध्याय                

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का कहर धीरे-धीरे अब कम हो रहा हैं। पिछले कुछ समय में कोरोना के नए मामलों में कमी आई है। ठीक होने वाले मरीजों में भी वृद्धि हुई है। पिछले 19 दिनों की बात की जाए तो पिछले 19 दिनों में 15 लाख से अधिक कोरोना के एक्टिंग के केस हुए है। देश में सबसे ज्यादा 9 मई को कोरोना के एक्टिव केस की संख्या 37 लाख 41 हजार थी। जो अब घटकर 22 लाख 15 हजार रह गई है। देश में तेजी से ठीक हो होते मरीजों की संख्या 15 लाख कम हुई है। पिछले 19 दिनों में 15 लाख कोरोना मरीज़ो ने जंग जीती है। देश के 19 राज्यों में लॉकडाउन जैसी पाबंदियां दिया है। इन राज्यों में हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश,बिहार,झारखंड, छत्तीसगढ़, उड़ीसा,मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र,कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, मिजोरम, तेलंगाना, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी शामिल है।

वही देश के 13 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में आंशिक लॉकडाउन है या यहाँ लॉकडाउन जैसे पाबन्दी तो है लेकिन छूट भी है। इनमे पंजाब, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, उत्तराखंड,अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, त्रिपुरा, आंध्र प्रदेश और गुजरात। देश में तेजी से ठीक होते कोरोना मरीजों की संख्या यह बताती है कि जल्दी हम कोरोना से जंग जीतने वाले हैं। मगर अभी भी हमें सतर्क रहने की आवश्यकता है।

दिल्ली: 24 घंटे में कोरोना के 900 नए मामलें मिलें

अकांशु उपाध्याय                

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के करीब 900 नए मामले सामने आए हैं और अगर नए मामलों की संख्या में गिरावट जारी रहती है तो शहर में ज्यादा गतिविधियों को मंजूरी दी जाएगी।केजरीवाल ने शुक्रवार को घोषणा की थी कि राष्ट्रीय राजधानी में सोमवार से धीरे-धीरे लॉकडाउन खत्म करने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी और यहां एक सप्ताह के लिए निर्माण गतिविधियों और फैक्ट्रियों को खोले जाने की इजाजत दी गई है। संक्रमण की दूसरी लहर से बेहद प्रभावित दिल्ली में चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन हटाने की प्रक्रिया करीब छह सप्ताह से ज्यादा समय से लागू लॉकडाउन के बाद हो रही है।

ब्लैक फंगस के करीब 176 मामले सामने आए

पंकज कपूर   

देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना का कहर जहां धीरे धीरे कम हो रहा है वही ब्लैक फंगस के मामलों में निरंतर बढ़ोतरी हो रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार उत्तराखंड में ब्लैक फंगस के अब तक करीब 176 मामले सामने आ चुके हैं जबकि 16 मरीजों की मौत हो चुकी है। एम्स चिकित्सालय ऋषिकेश में आज ब्लैक फंगस के सात नए मरीज भर्ती किए गए। इस प्रकार अब तक इस चिकित्सालय में ब्लैक फंगस के 117 मरीज पहुंच चुके हैं। आज किसी मरीज की मृत्यु नहीं हुई है। अब तक 9 मरीजों की मौत हो चुकी है।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में आज यानी शुक्रवार शाम 5 बजे तक म्यूकोर माइकोसिस( ब्लैक फंगस) के कुल 117 केस आ चुके हैं। आज किसी भी मरीज की मृत्यु की खबर नहीं है। अस्पताल से अभी तक 2 मरीजों को उपचार के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है। अब एम्स अस्पताल में म्यूकोर माइकोसिस के शेष 106 मरीज भर्ती हैं।इधर दून मेडिकल कॉलेज में 10 मैक्स हॉस्पिटल में 07 , महंत इंद्रेश हॉस्पिटल में 12 ,जौलीग्रांट में 22 , आरोग्यधाम हॉस्पिटल में दो , कृष्णा अस्पताल हल्द्वानी में तीन ,सुशीला तिवारी अस्पताल में 03 , सिटी अस्पताल में , तिवारी नर्सिंग होम में एक ,जिला अस्पताल उधम सिंह नगर में एक मामला सामने आया है।

जबकि अब तक एम्स ऋषिकेश में 09 , जॉली ग्रांट में तीन ,सुशीला तिवारी में एक , महंत इंद्रेश अस्पताल में दो ,जिला अस्पताल उधम सिंह नगर में एक , सुशीला तिवारी में एक मरीजों की मौत हो चुकी है। इसके अलावा जौलीग्रांट से छह तथा ऋषिकेश एम्स से 4 मरीज तथा मैक्स अस्पताल से 3 मरीज उपचार के बाद स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं।चिकित्सकों की सलाह है कि स्टेराॅयड के सेवन से इलाज करने वाले कोविड संक्रमित रोगी अपने शुगर की नियमित जांच करवाएं और शुगर लेवल पर नियंत्रण रखें। लक्षण नजर आने पर बिना देरी किए चि​कित्सक से परामर्श लें। बिना चिकित्सीय सलाह के स्टेराॅयड का सेवन कदापि नहीं करें। डाॅ. त्यागी ने बताया कि कोविड पेशेंट को अधिकतम 10 दिनों से ज्यादा स्टेराॅयड का सेवन नहीं करना चाहिए। दवा की ज्यादा डोज बेहद नुकसान दायक है। इसके अलावा कोविड संक्रमित होने पर रोगी को पहलेे 6 हफ्तों के दौरान अपने शुगर लेवल पर विशेष ध्यान देने की जरुरत है। उन्होंने बताया कि एम्स में भर्ती म्यूकर माइकोसिस के अधिकांश रोगी शुगर की बीमारी से ग्रसित हैं।

सौतेले बाप ने नाबालिग को बनाया हवस का शिकार

श्रीराम मौर्य   

हरिद्वार। उत्तराखंड के हरिद्वार जिले से बेहद शर्मनाक मानवता को झकझोर कर रख देने वाली खबर सामने आ रही है। यहां एक दरिंदे बाप ने अपनी नाबालिग बेटी को हवस का शिकार बना लिया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है

प्राप्त जानकारी के मुताबिक घटना का खुलासा उस वक्त हुआ जब वह बेटी का गर्भपात कराने के लिए राजकीय महिला अस्पताल लेकर पहुंचा पुलिस ने जब पीड़ित से पूछताछ की तो पुलिस को मामला समझ में आते देर ना लगे उसके बाद आरोपी के खिलाफ पॉस्को सहित अन्य धारा में मुकदमा दर्ज किया गया उसे गिरफ्तार किया पुलिस ने आरोपी को मेडिकल के बाद न्यायलय में पेश किया जहां से उसको जेल भेज दिया गया।

कोतवाली प्रभारी निरीक्षक अमरजीत सिंह के अनुसार विगत सुबह एक व्यक्ति 13 साल की किशोरी को गर्भपात कराने के लिए राजकीय महिला चिकित्सालय लेकर पहुंचा जिस पर चिकित्सकों ने मामला संदिग्ध लगा देखकर मामले की जानकारी चाही लेकिन वह व्यक्ति कोई संतोषजनक जवाब नहीं दे सका जिसपर चिकित्सकों ने कोतवाली पुलिस को मामले की जानकारी दी पुलिस मामले की गंभीरता को देखते हुए तत्काल महिला दरोगा लक्ष्मी मनराल कर्मियों के साथ मौके पर पहुंची लेकिन तब तक वह व्यक्ति किशोरी को छोड़कर भाग निकला। पुलिस ने पीड़िता से मामले की जानकारी ली, पीड़िता ने बताया कि उसकी पिता का देहांत हो चुका है मां ने दूसरी शादी प्रकाश पुत्र अमर सिंह निवासी फरीदाबाद हरियाणा से की है जो कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत हरिद्वार मे ठहरे हैं।

पीड़िता ने बताया कि उसका सौतेला बाप उसके साथ डरा धमका कर गलत काम करता था जिससे पेट में दर्द होने कारण अस्पताल लेकर आया था चिकित्सकों से जानकारी लेने पर पता चला कि पीड़िता किशोरी ढाई माह से गर्भवती है पुलिस ने पीड़िता की शिकायत के बाद आरोपी सौतेले बाप के खिलाफ पोस्को सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर तलाश शुरू कर कर एक सूचना पर पुलिस ने आरोपी को रोड़ीवैला वाला मैदान स्थित आनंद वन समाधि के पास से गिरफ्तार कर लिया पुलिस ने आरोपी का मेडिकल कराने के बाद न्यायालय में पेश किया जहां से उसे जेल भेज दिया।

संक्रमण की चपेट में आए कुल लोग 2,77,29,247

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। देश में एक दिन में कोविड-19 के 1,73,790 मामले सामने आए जो पिछले 45 दिनों में सबसे कम है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार सुबह तक के आंकड़ों के मुताबिक संक्रमण की चपेट में अब तक आए कुल लोगों की संख्या 2,77,29,247 हो गई है। आंकड़ों के मुताबिक रोजाना की संक्रमण दर घटकर 8.36 प्रतिशत पर आ गई है और लगातार पांच दिनों से 10 प्रतिशत से कम दर्ज की जा रही है जबकि संक्रमण की साप्ताहिक दर 9.84 प्रतिशत दर्ज की गई।
मंत्रालय के सुबह आठ बजे तक के आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटों में 3,617 लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या 3,22,512 पर पहुंच गई है। मंत्रालय ने बताया कि शुक्रवार को कोविड-19 के लिए 20,80,048 जांच की गई जिसके बाद देश में अब तक 34,11,19,909 नमूनों की जांच की जा चुकी है। देश में इलाज करा रहे मरीजों की संख्या भी घटकर 22,28,714 पर आ गई है जो संक्रमण के कुल मामलों का 8.04 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर सुधरकर 90.80 प्रतिशत हो गई है।
आंकड़ों के मुताबिक बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 2,51,78, 011 हो गई है जबकि संक्रमण से मृत्यु दर 1.16 प्रतिशत है। देश में कोविड-19 के मामले सात अगस्त को 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख, पांच सितंबर को 40 लाख और 16 सितंबर को 50 लाख के पार पहुंच गए थे। वहीं, 28 सितंबर को 6 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख, 20 नवंबर को 90 लाख और 19 दिसंबर को एक करोड़ के आंकड़े को पार कर गए थे। भारत ने चार मई को दो करोड़ संक्रमितों का गंभीर आंकड़ा पार किया था।

पांच मंजिला इमारत का हिस्सा गिरने से 7 की मौत

कविता गर्ग   

ठाणे। महाराष्ट्र के ठाणे जिले के उल्हासनगर कस्बे में इमारत का एक हिस्सा ढहने से सात लोगों की मौत हो गई। एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। ठाणे जिले के संरक्षक मंत्री मंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि राज्य सरकार मारे गए लोगों के परिवार के सदस्यों को पांच लाख रुपए की अनुग्रह राशि देगी। मरने वालों में एक किशोर और तीन महिलाएं शामिल हैं।

नेहरू चौक में स्थित पांच मंजिला इमारत ‘साई शक्ति’ का एक हिस्सा शुक्रवार देर रात ढह गया। देर रात अधिकारियों ने जानकारी दी कि घटना में छह लोगों की मौत हो गई है और चार या पांच लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। ठाणे नगर निगम के क्षेत्रीय आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रमुख संतोष कदम ने बताया,”मलबे से एक और शव बरामद होने से घटना में मरने वालों की संख्या बढ़कर सात हो गई है। इस दुर्घटना में तीन महिलाएं, तीन पुरुष और एक किशोर की मौत हो गई।”उन्होंने बताया मारे गए लोग दो परिवार से थे। यह इमारत 26वर्ष पुरानी है और इसमें 29 फ्लैट हैं। कदम ने बताया,” रात नौ बजे पांच फ्लैटों के लिविंग रूम वाला हिस्सा भरभरा कर गिर गया। सूचना मिलने पर क्षेत्रीय आपदा मोचन बल और ठाणे आपदा मोचल बल के कर्मी घटनास्थल पर पहुंचे और उन्होंने तलाश एवं बचाव अभियान शुरू किया।”

अधिकारी ने बताया कि सातवां शव बरामद होने के बाद शुक्रवार रात 12.46 बजे तलाश अभियान बंद कर दिया गया। मृतकों की शिनाख्त पुनीत बाजोमल पंजवानी (17), दिनेश बाजोमल पंजवानी (40), दीपक बाजोमल पंजवानी (42), मोहिनी बाजोमल पंजवानी (65), कृष्ण इंदुचंद बजाज (24),अमृता इंदुचंद बजाज (54) और लवली बजाज (20) के तौर पर हुई है। शिंदे स्थिति का जायजा लेने के लिए घटनास्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा,” राज्य सरकारे मारे गए लोगों के परिजनों को पांच लाख रुपए अनुग्रह राशि के तौर पर देगी।” उन्होंने कहा कि हाल के दिनों ने इस क्षेत्र में यह दूसरी ऐसी घटना है।

मंत्री ने कहा,” 1994-95 में स्थानीय निकाय ने कुछ अनधिकृत इमारतों के हिस्से, पिलर और रॉड गिरा कर इमारतों को गिरा दिया था। लेकिन ऐसा पाया गया है कि कुछ निर्माणकर्ताओं ने लोहे की छड़ों को ठीक करके और कुछ मरम्मत कार्य करके इमारत को नया रंग रूप दे दिया था और वे इमारतें अब गिर रही हैं और मासूम लोगों की जान ले रही हैं।” उन्होंने उल्हासनगर नगर निगम के आयुक्त राजा दयानिधि को ऐसी इमारतों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने और बिल्डरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

सरकार की लापरवाही के कारण संकट खड़ा हुआ

अकांशु उपाध्याय  
नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी के लिए केंद्र सरकार की ‘लापरवाही’ को जिम्मेदार ठहराते हुए शनिवार को कहा कि अगर केंद्र ने पहली एवं दूसरी लहर के बीच मिले समय में योजनाबद्ध ढंग से तैयारी की होती तो इस संकट को टाला जा सकता था।सरकार से प्रश्न पूछने की अपनी श्रृंखला ‘जिम्मेदार कौन’ के तहत उन्होंने फेसबुक पोस्ट के जरिए यह सवाल किया कि केंद्र ने महामारी वाले साल 2020 में ऑक्सीजन का निर्यात 700 प्रतिशत तक क्यों बढ़ा दिया? उन्होंने यह भी पूछा कि मोदी सरकार ने अपने ही विशेषाधिकार प्राप्त समूह की ऑक्सीजन संकट की सलाह को दरकिनार क्यों किया ?
प्रियंका ने कहा कि महामारी की मार के पहले तक ऑक्सीजन को प्राथमिक रूप से औद्योगिक उद्देश्य के लिए इस्तेमाल किया जाता था, इसलिए भारत के पास ऑक्सीजन ट्रांसपोर्ट में इस्तेमाल होने वाले विशेष रूप से बनाये गए क्रायोजेनिक टैंकरों की संख्या 1200- 600 थी। कोरोना की पहली लहर एवं दूसरी लहर के बीच मोदी सरकार ने इन टैंकरों की संख्या बढ़ाने का कोई प्रयास नहीं किया।

उन्होंने दावा किया कि भारत ऑक्सीजन का सबसे बड़ा ऑक्सीजन उत्पादक देश है, लेकिन केंद्र सरकार की लापरवाही के चलते कोरोना की दूसरी लहर के समय ऑक्सीजन संकट खड़ा हुआ और लोगों की जानें गईं। केंद्र सरकार ने 150 ऑक्सीजन संयंत्र चालू करने के लिए बोली लगाई थी, लेकिन उनमें से ज्यादातर संयंत्र अभी भी चालू नहीं हो सके हैं।

प्रियंका ने यह आरोप भी लगाया कि इस संकट काल में भी मोदी सरकार ने लोगों की जेब काटने में कोई कसर नहीं छोड़ी। संसद की स्वास्थ्य मामलों की स्थाई समिति ने सरकार को पहले ही सुझाया था कि केंद्र सरकार को ऑक्सीजन सिलेंडर के दाम नियंत्रित करने के प्रयास करने होंगे, लेकिन ऑक्सीजन सिलेंडर की कीमत पिछले साल 4000 रू थी वहीँ एक साल में बढ़कर 7000 रू हो गई।

उन्होंने कहा कि पिछले एक साल दौरान केंद्र सरकार ने कोरोना पर विजय घोषित की, संसद के अंदर मंत्रियों ने इस विजय के लिए प्रधानमंत्री का स्तुतिगान भी किया। देश के वैज्ञानिकों, विशेषज्ञों से चेतावनी के बावजूद केंद्र ने दूसरी लहर के खतरे को अनदेखा किया।

शहीद मेजर की पत्नी को सेना में शामिल किया

अकांशु उपाध्याय  

जम्मू। पुलवामा में शहीद हुए अपने पति मेजर विभूति शंकर धौंदियाल के पदचिह्नों पर चलते हुए निकिता कौल शनिवार को सेना में शामिल हो गयीं। सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने तमिलनाडु के चेन्नई में अधिकारियों की प्रशिक्षण अकादमी में उनके कंधों पर स्टार लगाए।

रक्षा मंत्रालय, उधमपुर के जन संपर्क अधिकारी (पीआरओ) ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर इस समारोह का एक संक्षिप्त वीडियो साझा किया है। पीआरओ उधमपुर ने ट्वीट किया, ”पुलवामा में प्राण न्योछावर करने वाले मेजर विभूति शंकर धौंदियाल को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया। उन्हें सर्वश्रेष्ठ श्रद्धांजलि देते हुए आज उनकी पत्नी निकिता कौल ने सेना की वर्दी पहन ली। यह उनके लिए गर्व का मौका होगा क्योंकि सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट वाई के जोशी ने उनके कंधे पर स्टार लगाए।”

मेजर धौंदियाल जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे और राष्ट्र के लिए उनके बलिदान को लेकर उन्हें शौर्य चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया गया। इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने सेना और शहीद सैन्यकर्मी की पत्नी की सराहना की है।

स्वप्निल पांडे ने लिखा ”आपको पता है यह इसलिए महत्वपूर्ण है कि सैनिक ना भी रहे लेकिन सेना उनके परिवारों को कभी अकेलापन का अहसास नहीं होने देती है। बहादुर अधिकारी से शादी करने वाली और अब खुद वर्दी पहनने वाली वीर नारी का साथ देना सेना के मूल्यों और इसके आचार संहिता को प्रदर्शित करता है।” कुछ और लोगों ने भी कौल की सराहना करते हुए लिखा, ”दिवंगत अधिकारी को यह सर्वश्रेष्ठ श्रद्धांजलि है।”

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

सार्वजनिक सूचनाएं एवं विज्ञापन

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण 

1. अंक-287 (साल-02)
2. रविवार, मई 30, 2021
3. शक-1984, ज्येठ, कृष्ण-पक्ष, तिथि- चतुर्थी, विक्रमी सवंत-2078।
4. सूर्योदय प्रातः 05:53, सूर्यास्त 07:09।
5. न्‍यूनतम तापमान -18 डी.सै., अधिकतम-39+ डी.सै.। बरसात की संभावना बनी रहेगी।
6.समाचार-पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है। सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा। सभी पद अवैतनिक है।
7.स्वामी, प्रकाशक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित। प्रकाशित समाचार, विज्ञापन एवं लेखोंं से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं हैं। पीआरबी एक्ट के अंतर्गत उत्तरदायी।
8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102।
9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.-20110
http://www.universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
संपर्क सूत्र :- +919350302745  
                     (सर्वाधिकार सुरक्षित)

दोनों देशों से अपने राजदूतों को वापस बुलाया

वाशिंगटन डीसी/ पेरिस। अमेरिका के सबसे पुराने सहयोगी फ्रांस ने परमाणु पनडुब्बी सौदा रद्द करने पर अप्रत्याशित रूप से गुस्सा दिखाते हुए अमेरिका...