बुधवार, 23 सितंबर 2020

धोनी को क्यों बताया हार का जिम्मेदार

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग में बीती रात खेले गए चौथे मुकाबले में राजस्थान रॉयल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स पर शाही जीत दर्ज की। पहले बल्लेबाजी करते हुए राजस्थान के लड़ाकों ने स्कोरबोर्ड पर 216 रन टांग दिए, जवाब में चेन्नई 200 रन ही बना पाई।


अब मैच के बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की जमकर आलोचना हो रही है। सोशल मीडिया पर फैंस के निशाने पर आने के बाद भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने भी सातवें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए माही के फैसले की आलोचना की है।


चीन के बयान देने पर भारत में जगी उम्मीदें

बीजिंग/ नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख के सीमांत इलाक़ों में बीते 5 मई से चल रही सैन्य तनातनी दूर करने के लिये सोमवार को दोनों पक्षों के सैन्य और राजनयिक प्रतिनिधियों की हुई छठी बैठक के बाद जारी साझा बयान उम्मीदें पैदा करता है। पहले भी चीन ने साझा बयान में इस तरह के वादे किये हैं। इसलिये ताज़ा साझा बयान में चीन द्वारा तनाव घटाने के उपायों पर दिखाई गई सहमति ज़मीन पर लागू होगी या नही, इस पर पूरे विश्वास के साथ कुछ नहीं कहा जा सकता। 
चीन की कथनी और करनी में अब तक हम भारी फर्क देखते आए हैं। इस बार के साझा बयान को इस नज़रिये से भी देखा जा सकता है कि पूर्वी लद्दाख के कई इलाक़ों में जिन चोटियों पर भारतीय सेना ने कब्जा कर लिया, उससे चीन की रणनीतिक स्थिति कमज़ोर हो गई। इसलिये यह सहमति बनी है कि अग्रिम मोर्चो पर अब और अधिक सैन्य तैनाती नहीं की जाएगी। 
साझा बयान में कहा गया है कि दोनों पक्ष एकपक्षीय तौर पर ज़मीन पर स्थिति नहीं बदलेंगे। पिछली 5 मई के बाद से चीन द्वारा जिस तरह एकपक्षीय तौर पर ज़मीनी स्थिति बदली गई है, उसे ख़त्म करने के लिये चीन कदम उठाएगा या नहीं, इस बारे में साझा बयान में कोई संकेत नहीं दिया गया है।             


तनाका बनी दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला

दुनिया की सबसे बुजुर्ग महिला। जापान की केन तनाका का नाम गुइनगुइन्निस वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज


नई दिल्ली/टोक्यो। जापान की केन तनाका को गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड्स  ने दुनिया के सबसे पुराने जीवित शख्स के रूप में मान्यता दी है। इस बीच केन तनाका ने एक और रिकॉर्ड तोड़ते हुए जापान की सबसे उम्रदराज शख्सियत होने की उपलब्धि भी हासिल कर ली है। केन तनाका से पहले ये रिकॉर्ड एक अन्य जापानी महिला के ही नाम था। जिनका नाम था। नबी ताजिमा। नबी की मौत अप्रैल 2018 में 117 वर्ष 260 दिन की उम्र में हुई। वहीं केन तनाका शनिवार को 117 साल और 261 दिन की हो गई हैं।
पति और बड़े बेटे की मौत द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान हुई थी।
स्थानीय मीडिया के मुताबिक उनका जन्म 2 जनवरी 1903 को हुआ था। पिछले साल 9 मार्च को 116 साल 66 दिन पूरे करने के बाद उनका नाम सबसे उम्रदराज महिला के तौर पर गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड्स में दर्ज किया गया था। और प्रमाणपत्र सौंपा था। वे आठ भाई-बहनों में सातवें नंबर की हैं। 19 साल की उम्र में तनाका की शादी हिदेओ तनाका से हुई थी। उनके चार बच्चे हैं। बाद में उन्होंने एक बच्चे को गोद भी लिया। तनाका के 8 पोते-पोतियां हैं।60 साल की उम्र में इस आदमी ने मांगी Job, हर किसी ने ठुकराया तो ऐसे दिखाई Fitness
तनाका के पति और सबसे बड़े बेटे की मौत द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान हुई थी। उसके बाद से वे एक दुकान चलाकर अपने परिवार का भरण पोषण करती थीं। तनाका जापान के फुकुओका शहर में रहती हैं। वहीं नई उपलब्धि हासिल करने के बाद उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के कारण पारिवारिक यात्राओं पर प्रतिबंध के बावजूद हर दिन अपने जीवन का आनंद ले रही थीं। एक परिवार के रूप में हम नए रिकॉर्ड से खुश और गर्व महसूस कर रहे हैं।             


भारत में चीन ने 40 बार फाइटर जेट भेजेंं

ताइपे । ताइवान और चीन के बीच तनाव गहराता जा रहा है जिससे दोनों के बीच जंग के भड़कने की आशंका तेज हो गई है। चीन ने शुक्रवार और शनिवार को करीब 40 बार ताइवान की सीमा के पास अपने लड़ाकू विमान भेजे। इसके जवाब में ताइवान ने भी चीन के हमले का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए अपनी तैयारी तेज कर दी है। ताइवान की राष्‍ट्रपति ने सेना की तैयारियों का जायजा लिया है और ताइवानी एयर फोर्स ने ड्रैगन पर हमले का जोरदार अभ्‍यास किया है। 


ताइवान की राष्‍ट्रपति त्‍साई इंग वेन ने ट्वीट करके कहा, 'ताइवान की वायुसेना किसी को धमकी नहीं देती है और न ही सैन्‍य उकसावे की कार्रवाई करती है। हमारे जवानों के अंदर यह इच्‍छाशक्ति और क्षमता है कि वे ताइवान की रक्षा कर सकें और चीनी विमानों के हमारे हवाई क्षेत्र में घुसपैठ से भयभीत नहीं है। हम इस क्षेत्र में शांति और स्थिरता कायम रखने के लिए प्रतिबद्ध हैं।'                 


तुर्की के राष्ट्रपति ने फिर कश्मीर की बात की

तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन ने फिर की कश्मीर की बात, भारत ने जताई आपत्ति, पाकिस्तान ने की सराहना।


अंकारा। तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन ने एक बार फिर से कश्मीर का मुद्दा संयुक्त राष्ट्र में उठाया है।भारत ने इसपर आपत्ति की है, वहीं पाकिस्तान ने इसकी सराहना की है।
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने ट्विटर पर लिखा है- "हम संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीरी लोगों के अधिकारों के समर्थन में एक बार फिर अपनी आवाज़ उठाने के लिए राष्ट्रपति अर्दोआन की सराहना करते हैं।कश्मीरी लोगों के जायज़ संघर्ष को तुर्की के समर्थन से हौसला मिलता है।
एक दिन पहले ही पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगांठ पर अपने भाषण में कश्मीर का मुद्दा उठाया था।
संयुक्त राष्ट्र की आम सभा को संबोधित करते हुए अर्दोआन ने कहा, ''कश्मीर संघर्ष दक्षिण एशिया में शांति और स्थिरता के लिहाज से काफ़ी अहम है।यह अब भी एक ज्वलंत मुद्दा है।जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म किए जाने के बाद से स्थिति और जटिल हो गई है।
अर्दोआन के इस रुख़ पर भारत ने कड़ी आपत्ति जताई है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के प्रतिनिधि टीएस त्रिमूर्ति ने कहा है, ''भारत के केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर पर हमने राष्ट्रपति अर्दोआन की टिप्पणी देखी है।यह भारत के आंतरिक मामले में हस्तक्षेप है, और यह भारत के लिए पूरी तरह से अस्वीकार्य है।तुर्की को दूसरे देश की संप्रभुता का सम्मान करना सीखना चाहिए।             


सांसद ने लोकसभा में उठाया महत्वपूर्ण मुद्दा

उत्तराखंड। सांसद अजय भट्ट ने लोकसभा सदन में उठाया राज्य का ये सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा।


देहरादून। उत्तराखंड के भाजपा के पूर्व अध्यक्ष और नैनीताल उधम सिंह नगर लोक सभा क्षेत्र से सांसद अजय भट्ट ने एक बार फिर उत्तराखंड की आवाज बनकर लोकसभा सदन में राज्य के ज्वलंत समस्या को उठाकर केंद्र सरकार से मदद मांग की है। सांसद अजय भट्ट ने लोकसभा सदन में शून्यकाल के दौरान राज्य के पलायन के मुद्दे को बेहद गंभीरता से उठाते हुए केंद्र सरकार से मदद की मांग की है।
यह भी पढ़ें देहरादून- (बड़ी खबर) पर्यटकों को सरकार ने दी बड़ी राहत, अब नहीं करानी होगी अनिवार्य बुकिंग, देखिए आदेश
नैनीताल लोकसभा से चुनकर लोकसभा सदन में जाने वाले सांसद अजय भट्ट उत्तराखंड के सबसे ज्यादा प्रश्न उठाने वाले सांसद में एक है। इस बार भी संसद के सत्र में सांसद अजय भट्ट ने उत्तराखंड की सीमावर्ती इलाकों से खाली हो रही गांव और लगातार पड़ रहा पलायन को रोकने के लिए केंद्र सरकार से विशेष पहल करने का अनुरोध किया है। सांसद अजय भट्ट ने कहा कि उत्तराखंड सीमावर्ती राज्य होने के चलते नेपाल और तिब्बत की अंतरराष्ट्रीय सीमा से जुड़ा हुआ है। और यहां बॉर्डर इलाके में लगातार पलायन हो रहा है घर बंजर हो गए हैं।खेत खलियान सूने पड़ गए हैं ।और युवा घर छोड़कर परदेस में भटक रहे हैं। लिहाजा केंद्र सरकार ईन गाँव में फिर से खुशहाली लाने के लिए बड़े आर्थिक पैकेज की मदद करें। जिससे कि पहाड़ के उजड़ चुके गांव को फिर से बसाया जा सके।  मुख्यमंत्री के ओएसडी का निधन, पिछले दिनों हुए थे। कोरोना संक्रमित सांसद अजय भट्ट इससे पूर्व राज्य के कई ज्वलंत मुद्दों को लोकसभा सदन के समक्ष उठा चुके हैं।और कई प्रस्ताव के लोकसभा सदन में लाकर चर्चा में रहे हैं। अक्सर अपने क्षेत्र से चुनकर जाने के बाद चुप रहने वाले राजनेताओं को देख क्षेत्र की जनता मायूस रहती थी।लेकिन राज्य में पहली बार लोकसभा में गंभीर समस्याओं को उठाने के लिए सांसद भट्ट जैसा जनप्रतिनिधि मिला है। जिसे लोग को काफी उम्मीद है।           


लड़ने के लिए गिलोय कितनी है फायदेमंद

डेंगू, स्वाइन फ्लू, मलेरिया जैसी बीमारियों से लड़ने के लिए फायदेमंद माना जाता है गिलोय


सदियों से हम प्रकृति द्वारा निर्धारित संसाधनों के साथ अपने जीवन को स्वस्थ बनाने की कोशिश कर रहे हैं। हम अनेकों प्रकार की जड़ी बूटियों का उपयोग करतें आ रहें है। इन जड़ी बूटियों में से ही एक को गिलोय भी माना जाता है। जिसका उपयोग न केवल आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों में किया जाता है।बल्कि गिलोय का उपयोग आज की दवाओं में भी किया जा रहा है। इसका उपयोग आमतौर पर बुखार के इलाज, पाचन क्षमता बढ़ाने आदि के लिए किया जाता था। हालांकि गिलोय का तना सबसे उपयोगी होता है।हम इसकी जड़ का भी उपयोग कर सकते हैं। तो आइए अब हम प्राचीन काल से इसके उपयोग के लाभों पर चर्चा करते हैं। यह हमारे जीवन को स्वस्थ बनाने के लिए किस तरह काम करता है।
गिलोय के अपने फायदे हैं।
सबसे पहले, अगर हम गिलोय के उपयोग के लाभों के बारे में बात करते हैं।तो इसका उपयोग प्रतिरक्षा को बढ़ाने में मदद करता है। गिलोय हमारी कोशिकाओं को स्वस्थ रखने और हमें बीमारी से छुटकारा दिलाने के लिए महत्वपूर्ण कार्य करती है। इसके साथ ही, यह रक्त को शुद्ध करने, बैक्टीरिया से लड़ने।विषाक्त पदार्थों को दूर करने आदि के लिए भी उपयुक्त माना जाता है।जिसे एंटीपायरेटिक माना जाता है, गिलोय को डेंगू, स्वाइन फ्लू, मलेरिया जैसी खतरनाक बीमारियों से लड़ने के लिए भी बहुत फायदेमंद माना जाता है और इसे बुखार में राहत देने के लिए उपयोग किया जाता है।
गिलोय लाभ में, यह पाचन में सुधार और आंत्र संबंधी समस्याओं को हल करने के लिए भी माना जाता है। कब्ज को खत्म करने के लिए, हम गिलोय पाउडर को आंवले के साथ मिलाकर उपयोग कर सकते हैं। जिन लोगों को डायबिटीज की समस्या है, उनके लिए हम गिलोय का घरेलू नुस्खे से इस समस्या को खत्म कर सकते हैं। गिलोय का रस रक्त शर्करा के उच्च स्तर को कम करने के लिए अद्भुत काम करता है।
गिलोय को पुराने समय से ही एडाप्टोजेनिक जड़ी बूटी के रूप में इस्तेमाल किया जाता था। यह मानसिक तनाव और चिंता को कम करने के लिए बहुत उपयोगी साबित होता है।क्योंकि यह विषाक्त पदार्थों से छुटकारा दिलाता है।और हमारी याददाश्त को बढ़ाता है।
गिलोय के फायदों में से एक यह है कि यह खांसी, सर्दी और टॉन्सिल जैसी समस्याओं को कम करने में भी मदद करता है। जिन बुजुर्गों को जोड़ों में दर्द की समस्या है।वे गिलोय के तने के चूर्ण को दूध में उबालकर इसका सेवन करके अपनी समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। अस्थमा के कारण सीने में जकड़न, सांस की तकलीफ, घरघराहट आदि जैसी स्थितियों का इलाज करना मुश्किल है। गिलोय की जड़ को चबाकर उसका रस पीने से ऐसे रोगियों की समस्या हल हो सकती है।
इन सभी फायदों के अलावा, गिलोय के पौधों को आँखों की दृष्टि क्षमता बढ़ाने के लिए आँखों पर लगाया जा सकता है। अगर आप डार्क स्पॉट्स, पिंपल्स और झुर्रियों को कम करना चाहते हैं।तो हम गिलोय का इस्तेमाल कर सकते हैं ।क्योंकि इसमें एंटी-एजिंग गुण होते हैं।जो त्वचा को चमकदार बनाने के लिए फायदेमंद माने जाते हैं।उपरोक्त तथ्यों में हमने गिलोय का उपयोग करने के लाभों पर चर्चा की, यह कैसे हमारी जीवन शैली को स्वस्थ रखने के लिए उपयोगी माना जाता है। अब हम यह जानने की कोशिश करते हैं।कि इसका उपयोग कैसे किया जाए ताकि हम आयुर्वेदिक तरीकों से खुद को स्वस्थ रख सकें। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि गिलोय का उपयोग हम रस बनाकर या इसका पाउडर बनाकर उपरोक्त बीमारियों से छुटकारा पाने के लिए कर सकते हैं। और इसके साथ ही गिलोय की जड़ का उपयोग भी बहुत फायदेमंद साबित होता है। लेकिन जब भी हम गिलोय का सेवन करना शुरू करते हैं। तो हमें इसकी विधि जानने की आवश्यकता होती है।ताकि हम इसका आवश्यकतानुसार उपयोग कर सकें। गिलोय लाभ में इसके अन्य लाभ यह हैं ।कि यह गठिया और पीलिया, यकृत के लिए भी फायदेमंद माना जाता है।             


सीएम के ओएसडी का निधन, जताया शोक

कोरोना से मुख्यमंत्री के ओएसडी का निधन सीएम ने जताया शोक।


देहरादून। सीएम के ओएसडी गोपाल सिंह रावत का आज निधन हो गया वह कोरोनावायरस से संक्रमित थे। और पिछले कई दिनों से वेंटिलेटर पर थे। आज उन्होंने अंतिम सांस ली वही गोपाल सिंह रावत के निधन पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने विशेष कार्याधिकारी गोपाल रावत के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि गोपाल रावत जी का निधन मेरे लिए बड़ी व्यक्तिगत क्षति है। वे एक कुशल और योग्य अधिकारी थे। परमपिता परमेश्वर दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें और शोक संतप्त परिजनों को धैर्य प्रदान करें। श्री गोपाल रावत जी के परिजनों के साथ मेरी गहरी संवेदनाएं हैं।                 


उत्तराखंड आने वालों के लिए नियम बनाएं

आज से फिर बदले बाहरी राज्यों से उत्तराखंड आने वालों के लिए नियम। जानिए अब क्या है।


देहरादून। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण को लेकर अनलॉक चार के नियम हर दिन बदल रहे हैं। दो दिन पूर्व उत्तराखंड में सैलानियों के लिए दो दिन की होटल व होम स्टे बुकिंग का नियम लगाया गया था। अब इसे वापस ले लिया गया है। सैलानियों को इस नियम से छूट दे दी गई है। वह बिना बुकिंग के भी उत्तराखंड आ सकते हैं। मुख्य सचिव ओमप्रकाश ने इस बाबत आदेश जारी कर दिए हैं। यह नई व्यवस्था 23 सितंबर से लागू होगी।
सबसे बड़ा फैसला कोवि़ड रिपोर्ट के संबंध में हैं। पर्यटक अब बिना कोरोना रिपोर्ट के भी होटल व होम स्टे में एंट्री पा सकते हैं। हालांकि होटल प्रबंधक को थर्मल स्क्रिनिंग सेनेटाइजिंग और सुरक्षा हेतु बनाए गए सभी प्रोटोकॉल को फॉलो करना होगा। इसके अलावा होटल प्रबंधक सुरक्षा हेतु बनाए गए खुद के नियम भी लागू कर सकता है। होटल्स निजी लैब संचालकों के साथ मिलकर अपने होटल्स में Covid-19 टेस्टिंग की व्यवस्था कर सकते हैं।               


यूपी के सबसे पहले ब्लैक बेल्ट बने रावत

योगमुडो (कोरियन मार्शल आर्ट) में पुष्पेंद्र सिंह रावत बने यूपी के सबसे पहले ब्लैक बेल्ट।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। गाजियाबाद के निवासी पुष्पेंद्र सिंह रावत ने इंटरनेशनल योंगमुडो फेडरेशन एवं इंडियन योंगमुडो फेडरेशन द्वारा आयोजित ऑनलाइन योंगमुडो ब्लैक बेल्ट एग्जाम में यूपी के सर्वप्रथम ब्लैक बेल्ट बने हैं।  इंटरनेशनल योंगमुड़ो फेडरेशन कोरिया के चीफ मास्टर एवं एग्जामिनर मिंचुल कैंग तथा इंडियन योंगमुड़ो फेडरेशन के अध्यक्ष मास्टर रोहित नारकर एवं महासचिव मास्टर राणा अजय सिंह ने संपूर्ण भारत से 130 मार्शल आर्ट खिलाड़ियों का बेल्ट एग्जाम लिया जिसमें पुष्पेंद्र सिंह रावत को टॉप-4 ब्लैक बेल्ट में चयनित किया गया तथा उत्तर प्रदेश में सबसे पहले योंगमुडो ब्लैक बेल्ट की उपाधि दी गई।
इसके साथ साथ पुष्पेंद्र सिंह रावत को मार्शल आर्ट में अच्छे खिलाड़ी चयनित कर उनको राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने के लिए तैयार करने की जिम्मेदारी भी सौंपी गई जिसे मार्शल आर्ट का विस्तार भी होगा।  इस अवसर पर योंगमुडो नॉर्थ इंडिया डायरेक्टर बृजेश भाऊ, योंगमुडो एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष अनिल कौशिक और महासचिव राजकुमार चौहान तथा एसोसिएशन के सभी पदाधिकारियों ने पुष्पेंद्र सिंह रावत को बहुत-बहुत बधाई दी।               


पुलिसकर्मियों के ट्रांसफर कितना सफल होगा

गाजियाबाद ।बढ़ते अपराधों के बीच 235 पुलिसकर्मियों के ट्रान्सफर कितना सफल होगा यह प्रयोग ।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। जिले में लगातार बिगड़ती कानून व्यवस्था में सुधार लाने के नाम पर गाजियाबाद एसएसपी कलानिधि नैथानी ने 235 पुलिसकर्मियों का ट्रांसफर किया। जबकि 8 पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया है। ट्रान्सफर किए गए 235 में से 204 पुलिसकर्मी पिछले 3 सालों से एक ही थाने पर तैनात थे। इन सभी को संबंधित थानों हटाकर दूसरे थानों पर पोस्टिंग दी गई है। इसके अलावा पुलिस लाइन में तैनात दूसरे जिलों से आए।25 पुलिसकर्मियों को भी थानों में पोस्टिंग दी गई है। हाल ही में इन सभी पुलिसकर्मियों की लिस्ट तैयार की गई थी।सभी पुलिसकर्मियों की तैनाती शहरी इलाकों में ही की गई है।


सप्ताह में दूसरी बार हुए ट्रान्सफर
गाजियाबाद एसएसपी ने 1 हफ्ते में दूसरी बार इतने बड़े स्तर पर पुलिस कर्मियों के ट्रांसफर किए हैं। बताया जा रहा है।कि तीसरी ट्रांसफर लिस्ट भी तैयार कर ली गई है। जल्द बाकी के पुलिसकर्मियों पर भी एसएसपी का एक्शन देखने को मिलेगा। क्योंकि गाजियाबाद जिले में बढ़ता हुआ अपराध पुलिस कर्मियों की लापरवाही उजागर कर रहा है।                              


जानकारी छुपाने में व्यस्त गाजियाबाद पुलिस

अवतिका में व्यापारी के घर से लाखों की लूट मीडिया से जानकारी छुपाने में व्यस्त रही गाज़ियाबाद पुलिस।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। एसएसपी गाज़ियाबाद कलानिधि नैथानी द्वारा अपराधों पर काबू पाने के दावों के बीच कविनगर थाना क्षेत्र के अवंतिका इलाके से सामने आया है। यहां पर किराना कारोबारी के घर में घुसकर बदमाशों ने हजारों की नगदी और लाखों के जेवरात लूट लिए हैं। बदमाश घर में खिड़की की ग्रिल काटकर दाखिल हुए थे। आश्चर्य की बात यह है। कि घटना की जानकारी देने के स्थान पर पुलिस मामले में मीडिया से जानकारी छुपने में व्यस्त रही। स्थानीय मीडिया द्वारा जब मौके पर पहुंचे सीओ से जब जानकारी मांगी गई तो वो मीडिया से आंखें चुराते हुए नजर आए और बिना कुछ बोले गाड़ी में बैठ कर चले गए।
परिवार को बंधक बनाकर हुई लुट
बताया जा रहा है। कि बदमाश रेलवे लाइन के किनारे से आए थे ।और घर की ग्रिल काटकर दाखिल होते ही उन्होंने पूरे परिवार को बंधक बना लिया। बदमाशों की संख्या 4 से 6 के बीच हो सकती है। हालांकि पुलिस इस संख्या के बारे में अभी कुल कर कुछ नहीं कह रही है। वारदात की जानकारी मिलने के 4 घंटे बाद भी पुलिस की पूछताछ परिवार से पूरी नहीं हो पाई। परिवार भी काफी ज्यादा सहमा हुआ है। पुलिस ने परिवार को मीडिया से बात करने से मना कर दिया है। अपनी नाकामी छुपाने के लिए पुलिस अब पीड़ितों पर भी दबाव बनाने की कोशिश पर आमादा है।                    


शिलान्यास करने पहुंचे तो जनता ने लगाए नारे

काम बोलता है । सड़क निर्माण का शिलान्यास करने पहुंचे अरविंद चौधरी तो जनता ने लगाए नारे


वसुंधरा। गाज़ियाबाद के वार्ड 36 में सेक्टर 10-12 की मुख्य सड़क का कार्य 2 सालों से लंबित था, जिसको लेकर स्थानीय निवासियों में काफी रोष था। लेकिन स्थानीय पार्षद अरविंद चौधरी के प्रयास के बाद नगर निगम ने निर्माण कार्य शुरू कर दिया है । 2 वर्ष पूर्व पार्षद ने इस सड़क निर्माण का अथक प्रयासों से पास करा लिया था।लेकिन सड़क पानी की पाइप लाइन की लीकेज होने के कारण निर्माण विभाग कार्य को शुरू नहीं कर पा रहा था।
विभागीय खींचा-तानी में लटके सड़क का निर्माण को लेकर पार्षद अरविन्द चौधरी ने नगर आयुक्त से में मुलाकात कर कार्य को शुरू कराने की मांग की। नगर आयुक्त ने मामले की गंभीरता को देखते हुए पत्र जारी कर निर्माण विभाग को कार्य शुरू करने के आदेश जारी किया लंबे इंतज़ार के बाद आखिर इस सड़क के निर्माण का कार्य शुरू हो ।गया।
पार्षद अरविन्द चौधरी चिन्टू ने  कहा कि इस कार्य में काफी ज्यादा देरी हो गयी है। लेकिन हमें खुशी है।कि आखिर ये कार्य शुरू हो गया । यह सड़क इन दो सेक्टरों की प्रमुख सड़क थी । जो हमारे वार्ड के विभिन्न सेक्टरों को जोड़ती थी । इस कार्य के लिए मैं नगर आयुक्त व उनकी टीम का धन्यवाद देना चाहूंगा , जिन्होंने तत्काल प्रभाव से इस पर कार्यवाही के आदेश दिए । इस कार्यक्रम में वसुंधरा जोनल प्रभारी सुनील राय , जुम्मन सिंह ,  मयूर , बिक्रम सिंह , गणेश लाल , नितिन त्यागी ,  अमर सिंह , राजेंद्र सिंह, उपस्थित रहे ।               


अस्पताल से गायब है स्वाइन फ्लू की वैक्सीन

करोड़ों संक्रमण के बीच जिला अस्पताल से गायब है। स्वाइन फ्लू की वैक्सीन।


अश्वनी उपाध्याय


गाजियाबाद। बदलते मौसम के बीच अब कोरोना संक्रमण के साथ गाज़ियाबाद में स्वाइन फ्लू का भी खतरा मंडराने लगा है। इस सीजन में अब तक स्वाइन फ्लू के तीन मरीज भी मिल चुके हैं जिसके स्वास्थ्य विभाग ने शासन से वैक्सीन भेजने की मांग की थी। अफसोस की बात है। कि शासन स्तर से अभी तक जिले में वैक्सीन नहीं भेजी गई है।
अब तक चिह्नित तीनों मरीज इंदिरापुरम क्षेत्र से हैं। हालांकि फिलहाल तीनों मरीज स्वस्थ हैं। लेकिन शासन से मेडिकल स्टाफ के वैक्सीनेशन के लिए वैक्सीन भेजने की मांग की गई थी। इस संबंध में स्टेट सर्विलांस अधिकारी को पत्र भेजे हुए एक महीने से ज्यादा समय हो चुका है।लेकिन अब तक जिले में वैक्सीन की सप्लाई नहीं की गई है।
वैक्सीन नहीं आने से स्वास्थ्यकर्मी भी परेशानी में हैं। उन्हें डर है।कि कोरोना संक्रमण के बीच यदि स्वाइन फ्लू के और मरीज निकले तो परेशानी बढ़ सकती है। आपको बता दें कोरोना और स्वाइन फ्लू का संक्रमण लगभग एक जैसे तरीके से ही फैलता है। और दोनों के लक्षण भी लगभग समान ही होते हैं। जिसके चलते दोनों संक्रमण में अंतर करना काफी मुश्किल होता है। सीएमओ ने इस संबंध में स्टेट सर्विलांस अधिकारी को पत्र भेजकर जिले में एंटी स्वाइन फ्लू वैक्सीन के 500 इंजेक्शन भेजने की मांग की है। जिससे मेडिकल स्टाफ का वैक्सीनेशन करवाया जा सके।             


कर्मचारी के संबंध में आया ठहरावः हाईकोर्ट

सस्पेंशन कोई सजा नहीं।सिर्फ नियोक्ता।कर्मचारी के संबंध में आया ठहराव है।तेलंगाना हाईकोर्ट ने कहा।आपराधिक मुकदमे का सामना कर रहे कर्मचारी को नियोक्ता पर थोपा नहीं जा सकता


तेलंगाना। यह देखते हुए कि निलंबन कोई सजा नहीं है।और यह ''सिर्फ नियोक्ता और एक कर्मचारी के बीच संबंध को निलंबित करता है। तेलंगाना हाईकोर्ट ने बुधवार को दोहराया है कि सिविल सेवा नियमों के तहत अगर किसी कर्मचारी के खिलाफ कोई आपराधिक मामला लंबित है या विभागीय जांच चल रही है तो उस कर्मचारी को निलंबित किया जा सकता।
अदालत एक डिप्टी तहसीलदार की तरफ से दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी।उसने अपने निलंबन के आदेश को चुनौती दी थी। इस आदेश को चुनौती देने वाले याचिकाकर्ता के खिलाफ 24 जुलाई 2020 को आईपीसी की धारा 420, 468, 471, 506 रिड विद 34 के तहत किए गए अपराध के संबंध में प्राथमिकी दर्ज की गई थी। जिसके बाद उसे 31 जुलाई 2020 को उसे निलंबित कर दिया गया था। अपीलकर्ता ने 17 अगस्त 2020 एकल पीठ द्वारा पारित आदेश की वैधता को चुनौती दी थी। एकल पीठ ने याचिकाकर्ता की तरफ से उसके निलंबन के खिलाफ दायर याचिका को खारिज कर दिया था।
क्या दो ट्वीट के मामले में प्रशांत भूषण के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा सकती है। बीसीडी ने जांच करने के लिए भूषण को नोटिस जारी किया
मुख्य न्यायाधीश राघवेन्द्र सिंह चौहान और जस्टिस टी विनोद कुमार की पीठ ने कहा कि चूंकि याचिकाकर्ता के खिलाफ क्रिमिनल ट्रायल और डिपार्टमेंटल इंक्वायरी,दोनों ही लंबित है।इसलिए नियोक्ता को इस तरह के कर्मचारी के साथ काम करने को मजबूर नहीं किया जा सकता है। या ऐसे कर्मचारी को नियोक्ता पर लादा नहीं जा सकता है। इसलिए याचिकाकर्ता को निलंबन करने का आदेश न्यायोचित है।


पीठ ने कहा कि तेलंगाना सिविल सर्विस (क्लासीफिकेशन,कंट्रोल और अपील) रूल्स, 1991 के नियम 8 में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि एक कर्मचारी को निलंबित किया जा सकता है यदि कोई आपराधिक मामला लंबित है, या विभागीय जांच पर विचार किया जा रहा है।बॉम्बे हाईकोर्ट ने दिनभर के लिए कार्यवाही स्थगित की, रिया की ज़मानत याचिका और कंगना रनौत के कार्यालय विध्वंस मामले पर सुनवाई कल पीठ ने यह भी कहा वतमान मामले में याचिकाकर्ता को 31 जुलाई 2020 को उसके आरोप बता दिए गए थे। इस प्रकार, जाहिर तौर पर एक विभागीय जांच शुरू हो गई थी। इसके अलावा निस्संदेह, याचिकाकर्ता के खिलाफ 24 जुलाई 2020 को पुलिस स्टेशन,करीमनगर रूरल में आईपीसी की धारा 420,468,471,506 रिड विद 34 के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की गई है। ऐसे में नियम 8 के तहत बताई गई दोनों शर्तें इस मामले में पूरी होती हैं।               


5 के खिलाफ गैर जमानती वारंटः तौमर

सीमुद्दीन सिद्दीक़ी समेत पांच के खिलाफ गैर जमानती वारंट
ठाकुर अनुराधा तोमर |


लखनऊ। उत्तर प्रदेश में लखनऊ की एक विशेष अदालत ने महिलाओं पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के एक मामले में पूर्व मंत्री और कांग्रेसी नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी समेत पांच लोगो के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है। एमपी-एमएलए कोर्ट के विशेष न्यायाधीश पवन कुमार राय ने राज्य की योगी सरकार में मंत्री स्वाति सिंह और उनके परिवार की महिलाओं के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी मामले में बिना जमानत हाजिरी माफ़ी की अर्जी देने पर नसीमुद्दीन सिद्दीकी, रामअचल राजभर, अतर सिंह, मेवालाल गौतम और नौशाद अली के खिलाफ ग़ैरज़मानती वारंट जारी किया है। सभी के खिलाफ 22 जुलाई 2016 को हजरतगंज थाने में एफआईआर दर्ज कराई गयी थी।


Also Read - कृषि विरोधी विधेयक को लेकर एकजुट विपक्ष का संसद परिसर में मार्च
अदालत ने कहा कि कहा कि पत्रावली को देखने से पता चला कि किसी भी आरोपी ने अभी तक इस मामले में अपनी जमानत नहीं कराई है जबकि आरोपियों की ओर से उनकी हाजिरी माफी की अर्जी दी जाती रही है, जिसे अदालत त्रुटिवश स्वीकार करती रही है।पर मायावती कहिन - संसद में सरकार और विपक्ष का व्यवहार शर्मनाक गौरतलब है। कि श्रीमती स्वाति सिंह की सास तेतरा देवी ने 22 जुलाई 2016 को हज़रतगंज थाने में एफआईआर दर्ज कराई थी। जिसमें कहा गया था। कि 21 जुलाई को नसीमुद्दीन सिद्दीकी।रामअचल राजभर, मेवालाल आदि की अगुवाई में एकत्र भीड़ ने उनके पुत्र को फांसी देने की मांग के साथ ही परिवार की महिलाओं को गालियां दीं और अमर्यादित नारे लगाये थे। इस मामले ने तूल पकड़ा था। जब भाजपा के तत्कालीन उपाध्यक्ष दया शंकर सिंह ने बसपा सुप्रीमो मायावती को लेकर अमार्यादित टिप्पणी की थी। बसपा के वरिष्ठ नेताओं ने दया शंकर सिंह की गिरफ़्तारी को लेकर हजरतगंज में जमकर प्रदर्शन किया था। इस प्रदर्शन में दया शंकर सिंह की पत्नी, बेटी और मां को खुले मंच से अमर्यादित शब्दों के साथ संबोधित किया गया था।             


सरकार-विपक्ष का हुआ शर्मनाक व्यवहार

संसद में सरकार और विपक्ष का व्यवहार शर्मनाक।


नई दिल्ली। बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने संसद में सरकार और विपक्ष की कार्यशैली की आलोचना करते हुए बुधवार को कहा कि यह लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला है।सुश्री मायावती ने एक ट्वीट में कहा कि संसद के मौजूदा सत्र में सरकार और विपक्ष का व्यवहार और कार्यशैली से संसद की मर्यादा और संविधान की गरिमा तार तार हुई है।
 कृषि विरोधी विधेयक को लेकर एकजुट विपक्ष का संसद परिसर में मार्च बसपा नेता मायावती ने कहा वैसे तो संसद लोकतंत्र का मन्दिर ही कहलाता है। फिर भी इसकी मर्यादा अनेकों बार तार-तार हुई है। वर्तमान संसद सत्र के दौरान भी सदन में सरकार की कार्यशैली व विपक्ष का जो व्यवहार देखने को मिला है।वह संसद की मर्यादा। संविधान की गरिमा व लोकतंत्र को शर्मसार करने वाला है। अति-दुःखद। अयोध्या में फिल्मी सितारों की रामलीला को योगी ने दी मंजूरी संसद में के उच्च सदन राज्यसभा में विपक्ष के हंगामें के दौरान आसन का माइक तोड़ा गया।दस्तावेज फाडे गये और सहायक कर्मचारियों को डराया धमकाया गया । इसके बाद हंगामें के बीच सदन में कृषि से संबंधी विधेयकों को ध्वनिमत से पारित कर दिये गये। सभापति ने विपक्ष के आठ सदस्यों को एक सप्ताह के लिए निलंबित कर दिया। इसका विरोध करते हुए ये सांसद पूरी रात संसद भवन परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष धरने पर बैठे रहे। विपक्ष ने निलंबित सांसदों के समर्थन में संसद की कार्यवाही का बहिष्कार कर दिया।               


हंगामा करने वाले 8 पुलिसकर्मी निलंबित

दारू पी कर हंगामा करने वाले 8 पुलिस कर्मी किये गये निलंबित…… 


शराब पीकर हंगामा करने वाले आठ आरक्षियो को एसपी ने किया निलंबीत
बहराइच। रात्रि में थाना रिसिया पर तैनात आरक्षी महीप शुक्ला के आवास पर आयोजित पार्टी में शराब पीकर हंगामा करने व आपस में मारपीट करने तथा घटना की सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को न देने के फलस्वरूप जनमानस में पुलिस की छवि खराब करने के आरोप में पुलिस अधीक्षक विपिन कुमार मिश्रा ने संज्ञान लेते हुए इस मामले को गम्भीरता से लिया है और इस संदर्भ में आरोपी आरक्षी 1- राजेश यादव 2- अमित यादव 3- अजय यादव 4- पंकज यादव 5- विनोद यादव 6- पवन यादव 7- अफजल अफजल खान एवं 8- महेश शुक्ला को निलंबित कर जांच के आदेश दे दिये हैं।पुलिस सूत्रों के मुताबिक इसकी जांच अपर पुलिस अधीक्षक नगर को सौंपी गई है।               


डेढ़ लाख परिवारों के पास नहीं है शौचालय

दिल्ली में डेढ़ लाख परिवारों के पास शौचालय नहीं  ।


नई दिल्ली। दिल्ली सरकार कासामाजिक आर्थिक सर्वेक्षण, 2018-2019 जारी हुआ है। सर्वे के अनुसार इस शहर में 20.05 लाख परिवार हैं। 42.6 प्रतिशत परिवार 10 हजार रूपये तक प्रति महीना पर जिंदगी गुजारता है। 47.3 प्रतिशत 10 से 25 हजार रूपये प्रति महीना खर्च करते हैं। सिर्फ 1.6 प्रतिशत ही 50 हजार या उससे अधिक प्रति महीने खर्च करते हैं। उत्तरी और पश्चिमी दिल्ली में कम आय वाले समूह के सबसे अधिक लोग रहते हैं। जबकि मध्यम आय वाले लोग दक्षिण-पश्चिम और दक्षिणी दिल्ली में अधिक रहते हैं। ऊंची आय वाले लोग नई दिल्ली और उत्तरी-पश्चिम दिल्ली में रहते हैं। कुल 21.2 प्रतिशत के पास ही कंप्यूटर है। यानी 15.7 लाख परिवारों के पास कंप्यूटर या लैपटाॅप नहीं है। इसमें भी नई दिल्ली क्षेत्र में 29.6 और उत्तर-पूर्वी दिल्ली में 14.1 प्रतिशत के पास कंप्यूटर था। इनमें से से लगभग 80 प्रतिशत लोग इंटरनेट से जुड़े हुए हैं।शहर के गिने गये इन परिवारों के 66.6 प्रतिशत के पास अपना घर है। अपने घर के मालिक सबसे अधिक शाहदरा में 76.3 प्रतिशत और उसके बाद मध्य दिल्ली में 72.3 प्रतिशत है। अपने घर का खुद मालिकाना से घर के प्रकार का मसला हल नहीं होता। संभव है कि ये घर गैर पंजीकृत मोहल्ले में हों या स्लम वाले मकान भी हों। यहां सभी तरह की रिहाइश को जोड़ लिया गया है। किराये के मकान में रहने वाले सबसे अधिक नई दिल्ली और दक्षिण पूर्वी दिल्ली में हैं। इस विशाल आबादी का 1.22 लाख परिवार सामुदायिक शौचालय पर निर्भर है। 11, 497 परिवार अभी भी खुले में नित्य काम करने के लिए बाध्य है। सिर्फ 40.7 प्रतिशत परिवारों के पास ही राशन कार्ड है। इसका 85.9 प्रतिशत हिस्सा पीडीएस से राशन हासिल करता है।
दिल्ली के 51.7 प्रतिशत के पास अपनी गाड़ी है। शाहदरा में यह सबसे अधिक है जबकि उत्तरी दिल्ली में सबसे कम 41.5 प्रतिशत है। दोपहिया और चार पहिया दोनों ही गाड़ी रखने वाले लोग कुल 6.6 प्रतिशत हैं। इसमें भी शाहदरा 9.6 और दक्षिण-पूर्वी दिल्ली में 3.6 प्रतिशत से सबसे ऊपर और नीचे हैं। लेकिन केवल चार पहिया वाहन रखने वाले 4.3 प्रतिशत हैं। जिसमें नई दिल्ली सबसे ऊपर है। 40.3 प्रतिशत के पास दो पहिया वाहन हैं।जिसमें उत्तर पूर्वी दिल्ली और शाहदरा सबसे आगे हैं। दिल्ली में लगभग आधे लोगों के पास किसी तरह का वाहन नहीं है। इसमें भी उत्तरी दिल्ली के 58.4 प्रतिशत परिवारों के पास कोई वाहन नहीं है। 3.3 प्रतिशत परिवारों के पास किसी भी तरह का फोन नहीं है। दिल्ली में 22.2 प्रतिशत लोग एयरकंडिशनर का प्रयोग करते हैं। इसमें दक्षिण-पश्चिम जिले में सर्वाधिक और उत्तर पूर्वी दिल्ली में सबसे कम है। सबसे घनी आबादी शाहदरा और सेंट्रल दिल्ली की है। कुल रिहाइशों के लगभग 71 प्रतिशत को ही टोटी के माध्यम से पानी पहुंचता है। लगभग 6 प्रतिशत लोग पानी सप्लाई व्यवस्था से ही बाहर हैं।ध्यान में रखना  होगा  कि कोविड-19 महामारी का प्रभाव दिल्ली पर खूब पड़ा है। खासकर, अनौपचारिक क्षेत्र रेहड़ी और घरेलू कामों में आई कमी की वजह से 10 हजार से कम आय के लोगों की स्थिति बदतर हुई है। इसी तरह सेवा क्षेत्र में काम के लगभग बंद हो जाने और अब भी उसमें बहुत सुधार न होने से 10 से 25 हजार की आय वाले लोगों की आय में भारी गिरावट आई है। आर्थिक आधार के खराब होने से न सिर्फ मकान वाहन कंप्यूटर और इंटरनेट सेवा आदि की मांग में कमी आई है। इसका असर निश्चय ही उपभोक्ता सामानों पर भी पड़ा है। इस रिपोर्ट को इस नजरिये से पढ़ना जरूरी है।             


4 बड़ें अस्पतालों पर प्रशासन का चाबू

लखनऊ के चार बड़े निजी कोविड अस्पतालों पर प्रशासन का चला चाबुक,मरीजो की हो रही मौतों पर डी एम ने लिया समज्ञान।


लखनऊ। चार बड़े निजी कोविड अस्पतालों पर प्रशासन का चला चाबुक,मरीजो की हो रही मौतों पर डी एम ने लिया संज्ञान लखनऊ। देस में चल रही महामारी कोविड-19 के प्रकोप ने पूरी तरह से अपना प्रभाव डाला है और इस महामारी का असर सामान्य जन जीवन पर पड़ा है। वहीं इसके बचाव को लेकर देश और प्रदेश की सरकारों द्वारा जहां निरन्तर प्रयास किये जा रहे हैं। वही कुछ स्वार्थी किस्म के लोग मौके का फायदा उठाते हुये इसके बचाव और इलाज के नाम पर लोगों का शोषण कर मात्र धन उगाही में लिप्त पाये जा रहे हैं ।इसी सम्बन्ध में राजधानी लखनऊ में कोविड मरीजों का इलाज कर रहे कुछ निजी अस्पतालों को लेकर आ रही शिकायतों का संज्ञान लेते हुये जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने लखनऊ के चार प्रमुख अस्पतालों में इलाज के दौरान मरने वाले मरीजों को लेकर नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया है।सूत्रों के मुताबिक इस सम्बंध में जिलाधिकारी द्वारा चंदन अस्पताल चरक मेयो और अपोलो अस्पताल में पिछले कुछ दिनों में 48 कोविड मरीजों की मौत के बारे में जानकारी मांगी है जिसके बारे में यहां कोविड के 48 मरीज रेफर कर भर्ती कराये गये थे। जहां सभी 48 मरीजों की मौत हो गयी थी। सूत्रों ने इसका विवर्म देते हुए बताया कि चरक अस्पताल में 10 संक्रमित भेजे गए सभी की हुई मौत चंदन हॉस्पिटल में 11 कोरोना संक्रमित भेजे गए सभी की हुई मौत अपोलो हॉस्पिटल में 17 संक्रमित भेजे गए सभी की हुई मौत और इसी तरह मेयो हॉस्पिटल में 10 मरीज भेजे गए थे। जहां भी सभी ने तोड़ा था दम।जिलाधिकारी लखनऊ ने इन चारों अस्पतालों से जवाब मांगा था जिसकी अवधि समाप्त होने व मिले जवाबों के आधार पर इन सभी के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत कार्रवाई करने की बात कही है। इन मृतक रोगियों की मृत्यु के सम्बंध में जिलाधिकारी ने पाया कि प्रथम दृष्टया लापरवाही परिलक्षित होती है। रोगी का कोविड टेस्ट विलम्ब से कराया जाना टेस्ट पाज़िटिव आने के बाद भी समय से मरीज को कोविड उपचार हेतु तत्काल कोविड 19 हास्पिटल रेफर न करना साबित चिकित्सालय में प्रोटोकॉल के अनुरूप चलित ट्राईड एरिया/होल्डिंग एरिया का न होना/मानकों के अनुरूप कार्य न होना भी जांच में पाया गया है। इन सभी तथ्यों को देखते हुए इन सभी अस्पतालों के खिलाफ विधिक कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये गये हैं।               


'दर्जाप्राप्त' मंत्री को जान से मारने की धमकी

भानु प्रताप उपाध्याय


शामली। हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त श्री राजेश्वर सिंह को जान से मारने की धमकी मिलने पर गहरा रोष प्रकट करता है। प्रशासनिक अधिकारियों से आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कठोर से कठोर कार्रवाई व माननीय मंत्री जी को सुरक्षा प्रदान करने की मांग मान्य मुख्यमंत्री से करता है। हिंदू युवा वाहिनी के राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त श्री राजेश्वर सिंह को लखनऊ में असामाजिक तत्व शकील अहमद द्वारा जान से मारने की धमकी देने पर हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली के कार्यकर्ताओं में गहरा आक्रोश है। हिंदू युवा वाहिनी जिला शामली के सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ता माननीय श्री राजेश्वर सिंह समर्थन में साथ है।
इसलिए बिट्टू कुमार चौधरी रविंदर सिंह कॉलखंडे अरविंद कौशिक सुधीर राणा, अमित गर्ग, अनुज गोयल, प्रदीप निरवाल वरुण वशिष्ठ, अनुराग गोयल, सन्नी गर्ग, पंकज गुप्ता उपेंद्र द्विवेदी, मनोज रोहिल्ला राजेश गुप्ता, महेश गोयल, विनय कौशिक अमरीश शर्मा, मांगेराम नामदेव, अमरपाल सिंह, मान अरविंद बंजारा, सुनील बंजारा, भानु प्रताप उपाध्याय आदि ने माननीय श्री आदित्यनाथ योगी ( मुख्यमंत्री) उत्तर प्रदेश से मांग करता है श्री राजेश्वर सिंह को धमकी देने वाले आरोपियों  के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कठोर से कठोर कार्रवाई करें  श्री राजेश्वर जी को सुरक्षा प्रदान करें।             


अज्ञात महिला का शव मिलने से मचा हड़कंप

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी


अज्ञात महिला का शव मिलने से मचा हड़कंप


हापुड़। थाना बाबूगढ़ क्षेत्र अंतर्गत कुचेसर रोड चौपला के पुल से उतरने के बाद सड़क किनारे एक अज्ञात महिला का शव मिला है। जिसकी उम्र करीब 35 से 40 वर्ष के करीब है जो गुलाबी रंग का सूट सलवार पहने हैं। रंग सांवला कद करीब 5 फीट 2″ है, दोनों हाथों में चूड़ियां पैरों में सफेद धातु की पाजेब कान में पीली धातु की बाली ,एवं पैरों की उंगलियों में बिछिया एवं हाथों व पैरों पर मेहंदी लगी हुई है, शरीर पतला है। आसपास के लोगों से शिनाख्त करने की कोशिश की, लेकिन अभी तक शव की शिनाख्त नहीं हो सकी है। अगर किसी को इस संबंध में कोई जानकारी हो तो कृपया थाना प्रभारी बाबूगढ़ के मोबाइल नंबर 9454 40 3407, 8860 429203 एवं चौकी प्रभारी चौकी कुचेसर चोपला के मोबाइल नंबर 7318154255 पर सूचित करने का कष्ट करें।                 


हॉस्पिटल में कोविड-19 में योद्धा का सम्मान किया

अतुल त्यागी, मुकेश सैनी


हापुड़। जिला इकाई हापुड़ के तत्वधान में सिटी मेडिकेयर सेंटर (सी.एम.सी. अस्पताल) जाकर कोरोना योद्धा डॉ. आस मोहम्मद को शाल उढ़ाकर सम्मानित किया गया। डॉ साहब ने इस महामारी के समय में भी मरीजों की सेवा उचित ख़र्च पर एवं गरीबों की सामाजिक रूप से भी मदद की थी। इस अवसर पर जिला उपाध्यक्ष मुकेश त्यागी, जिला कोषाध्यक्ष मुकेश प्रजापति, नगरसूचना मंत्री श्याम बर्मा, अमित,ललित चौधरी उपस्थित रहे।               


कहासुनी हुई तो महिला ने लगाई फांसी

मिर्जापुर। उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में बुधवार की सुबह महिला ने फांसी लगाकर जान दे दी। मौके पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
जिले के मड़िहान थाना क्षेत्र के निकरिका गांव निवासिनी फुलवंती देवी(52) पत्नी स्व. विनय पांडेय मड़िहान तहसील में चतुर्थ श्रेणी की कर्मचारी हैं। बुधवार को फुलवंती देवी मड़िहान तहसील ड्यूटी जाने के लिए निकलने की तैयारी कर रही थीं। उनका मोबाइल फोन नहीं मिल रहा था। जिसे खोजने को लेकर बेटी के साथ कहासुनी हुई।
गुस्से में आकर फुलवंती देवी अपने ही घर के कमरे में अंदर से दरवाजा बंद कर दुपट्टे के सहारे फांसी के फंदे पर झूल गई। घरवालों की चीख-पुकार सुन कर इकट्ठा हुए लोगों की सहायता से दरवाजा तोड़कर फांसी के फंदे से झूल रही फुलवंती देवी को उतारकर राजगढ़ सीएचसी लाया गया। जहां चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया।             


यूपी समेत चार राज्यों में की छापेमारी

लखनऊ। केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो यानी सीबीआई की टीम बड़ी कार्रवाई की है। सीबीआई की टीम ने गाजियाबाद समेत देश कई शहरों में एक साथ छापेमारी कर रही है। मिली जानकारी के मुताबिक प्रतिबंधित मवेशियों की तस्करी से जुड़े इस मामले में बॉर्डर सिक्योरिटी फ़ोर्स (बीएसएफ) की 36वीं बटालियन के एक पूर्व कमांडेंट समेत चार आरोपियों के खिलाफ खिलाफ सीबीआई ने नामजद मामला दर्ज किया है।             


नाबालिग से किया रेप, आरोपी गिरफ्तार

कलवारी। बस्‍ती की कलवारी पुलिस ने दो माह पहले 12 वर्षीय मासूम छात्रा के साथ दुष्कर्म का प्रयास करने के आरोपी  प्रधान को आखिरकार गिरफ्तार कर ही लिया। थानाध्यक्ष विंदेश्वरी मणि त्रिपाठी ने बताया कि आरोपी को जेल भेज दिया गया है। 


कलवारी थाना क्षेत्र के एक गांव निवासी कक्षा पांच की छात्रा बारह वर्षीय बालिका के साथ दुष्कर्म करने के प्रयास का आरोप एक चर्चित गांव के प्रधान रामनेवास पर लगा था। पुलिस ने बालिका के पिता की तहरीर पर ग्राम प्रधान के खिलाफ अपराध संख्या 126/20 धारा 376, 511, 354 क, 452, 506 आईपीसी व 7/8 पास्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया था। उसी समय से आरोपी प्रधान की तलाश की जा रही थी लेकिन लाख प्रयास के बाद भी पुलिस उसकी परछाई तक नहीं छू पाई थी।


प्रेमी का दोस्त करता रहा लगातार रेप

कोलकाता। प्रेमी के साथ कोलकाता से फरार एक महिला के साथ प्रेमी के दोस्त ने ही दुष्कर्म किया। कई शहरों में बंधक बना कर महिला के साथ जोर-जबर्दस्ती की गई। प्रेमी संकेत कृष्णानी के दोस्त बैंक मोड़ तेतुलतल्ला के बादल गौतम ने महिला से लाखों रुपए और बेशकीमती गहने भी ले लिए। किसी तरह पीछा छुड़ाकर निकली महिला ने बादल गौतम के खिलाफ बैंक मोड़ थाने में अगवा कर दुष्कर्म करने की प्राथमिकी दर्ज कराई है। पुलिस ने महिला का मेडिकल टेस्ट कराया है। जल्द ही न्यायालय में महिला का धारा 164 के तहत बयान दर्ज कराया जाएगा। पीड़िता बीसीसीएल के रिटायर अधिकारी की बेटी है।


बैंक मोड़ थाने में दिए लिखित शिकायत में महिला ने बताया कि वह अपने विवाह से खुश नहीं थी और संकेत कृष्णानी के साथ शादी करना चाहती थी। 11 जुलाई को वह कोलकाता से संकेत कृष्णानी और बादल गौतम के साथ अपने कार से निकली थी। संकेत और बादल गौतम के बीच 15 वर्षों की जान-पहचान थी। बादल गौतम के कहने पर घर से निकलते वक्त उसने अपने सारे गहने साथ ले लिए थे। बादल ने यह कहते हुए सारे गहने और रुपए ले लिए कि जब पुलिस पकड़ेगी तो गहने ले लेगी। बादल और उसके भाई के खिलाफ हाल ही में बोकारो में भी प्राथमिकी दर्ज की गई थी। वह पहले भी विवादों में रहा है।               


अनुराग के खिलाफ रेप के मामले में मुकदमा

मुंबई। मुबंई पुलिस ने मंगलवार को फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप  के खिलाफ एक एफआईआर दर्ज की है। डायरेक्टर पर एक्ट्रेस पायल घोष ने 2013 में अपने साथ यौन दुराचार करने का आरोप लगाया था. कश्यप ने इन आरोपों को आधारहीन बताकर खारिज कर दिया थाई एक अधिकारी ने बताया है कि घोष और उनके वकील नितिन सातपुते पुलिस में पहुंचे जिसके बाद मंगलवार देर रात वर्सोवा पुलिस स्टेशन कश्यप के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।


कश्यप के खिलाफ आईपीसी की 376 (I) (रेप), 354 (महिला की शीलता भंग करने के इरादे के साथ उसका शोषण करना या आपराधिक दबाव डालना), 341 (गलत तरीके से नियंत्रण करना) और 342 (गलत तरीके से रोकना) धाराओं में केस दर्ज किया गया है। अधिकारी ने बताया कि मामले की आगे जांच हो रही है. उन्होंने कहा कि कश्यप को सात साल पुराने इस मामले में पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा. 


अपनी शिकायत में एक्ट्रेस ने आरोप लगाया है कि कश्यप ने 2013 में वर्सोवा में यारी रोड की एक जगह पर उनका रेप किया था। अधिकारी ने बताया कि घोष और उनके वकील पहले सोमवार को ओशीवारा पुलिस स्टेशन गए थे लेकन वहां से उन्हें वर्सोवा आने को बोला गया क्योंकि कथित घटना उसी न्यायिक क्षेत्र की थी। वो ओशीवारा पुलिस के पास इसलिए गए थे क्योंकि कश्यप का ऑफिस इसी इलाके में है।               


 


आर्कटिक सागर में ग्लोबल वार्मिंग का असर

नई दिल्ली। ग्लोबल वॉर्मिंग की वजह से आर्कटिक महासागर में बर्फ का पिघलना लगातार जारी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि जिस तरह से बर्फ पिघलती जा रही है उससे ये अपना रिकार्ड तोड़ देगी। नेशनल स्नो एंड आइस डेटा सेंटर के शोधकर्ताओं ने कहा कि 15 सितंबर को ये संभावना थी कि बर्फ सबसे अधिक पिघल जाएगी। रिसर्च में ये चीज देखने को मिली। अभी तक यहां 1.44 मिलियन वर्ग मील महासागर का इलाका बर्फ से ढंका था।
दरअसल, समुद्री बर्फ का उपग्रह से चित्र लेने और इसको मॉनिटर करने का काम चार दशक पहले शुरू हुआ था। यह देखा गया है कि साल 2012 से इसमें कमी दर्ज की जा रही है। सबसे पहले इसे 1.32 मिलियन वर्ग मील मापा गया था। उसके बाद से साल दर साल इसमें कमी होती जा रही है। वैज्ञानिकों का कहना है कि ये सब जलवायु परिवर्तन की वजह से हो रहा है और लगातार जारी है। इस बीच यह भी कहा जा रहा है कि जंगलों की भयंकर आग ने इन ग्लेशियरों को पिघलाने में कहीं न कहीं भूमिका निभाई है।


प्राथमिक कक्षाओं का ऑनलाइन प्रशिक्षण

उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ


श्रीमती रश्मि वर्मा जिला उपाध्यक्ष एवं ब्लाक अध्यक्ष केराना


भानु प्रताप उपाध्याय


शामली। मिशन प्रेरणा ई पाठशाला के दूसरे सत्र का शुभारंभ प्राइमरी विद्यालय नंबर 1 मुंडेट कला में दिनांक मंगलवार को किया गया। जो विद्यार्थी व्हाट्सएप ग्रुप पर पढ़ाई कर रहे हैं। उन्हें निरंतर ऑनलाइन शिक्षण कार्य कराया जा रहा है। मुंडेट गांव में गली के चौराहों पर शिक्षा से संबंधित वॉल पेंटिंग एक टीचर कॉर्नर भी बच्चों के लिए बनवाए गए लेकिन कुछ विद्यार्थी इस सभी व्यवस्थाओं के होते हुए भी नहीं पढ़ पा रहे हैं। उन बच्चों के अभिभावकों को विद्यालय बुलाकर पूरे सप्ताह का कार्य योजना को समझाया और वर्कशीट पर गृह कार्य दिया गया किसी भी विद्यार्थी की पढ़ाई में व्यवधान न हो और प्रत्येक विद्यार्थी अपनी कक्षा में प्रेरणलक्ष्य प्राप्त कर ले। इसके लिए बेसिक शिक्षा विभाग की पहल है शिक्षक और अभिभावक आएंगे एक साथ ई पाठशाला में बच्चों को रोज पढ़ाएंगे नए पाठ।


 श्रीमती रश्मि वर्मा ने कक्षा 5 के बच्चों के अभिभावकों नवोदय विद्यालय प्रवेश परीक्षा के बारे में आवश्यक जानकारी दी अभिभावकों से अनुरोध किया कि इस करो ना महामारी के चलते बच्चों को बार-बार हैंड वॉश करने के लिए कहे यह भीड़ भाड़ वाली जगह पर न जाने दे। इस कार्यक्रम में जगपाल- जोगिंदर- इस्लाम -वहीद- शहीद -राजीव -वेदवती- पूनम- रविता -पिंकी आदि अभिभावकों मैं विद्यालय के समस्त स्टाफ का सहयोग रहा।                 


जाट महासभा कड़ी निंदा करती हैः हुड्डा

हरियाणा के पिपली में किसानों पर हुए लाठीचार्ज और दुर्व्यवहार की हरियाणा जाट महासभा कड़ी निंदा करती है: प्रदीप हुड्डा 

रोहतक। हरियाणा में जो दुर्व्यवहार किसानों के साथ पिपली में हुआ है, हरियाणा जाट महासभा उसकी कड़ी शब्दों में निंदा करती है। सरकार ने झूठे सपने दिखा दिखा कर हर बार किसानों का हमेशा से शोषण किया है। और  आज जब किसान हाल ही में पिपली अपने हको की लड़ाई लड़ रहा था तो तब उस पर लाठियां भांजी जा रही थी। लेकिन अब किसान जाग चुका है। और जनता का हर इंसान किसान बनकर अपने हकों की लड़ाई आखिरी सांस तक लड़ेगा। सरकार को यह अध्यादेश वापस लेकर किसानों के हितों के हको के फैसले लेने होंगे।

प्रदीप हुड्डा               

संस्था ने बांटे इम्यूनिटी बूस्टर और प्रमाण-पत्र

 बागपत। देश में हजारों संस्थाएं समाज कल्याण के कार्यों में लगी हुई है। सभी संस्थाएं अपने उद्देश्य के अनुसार विभिन्न विषयों पर आधारित समस्याओं के प्रति संघर्ष कर रही हैं।  जिसके अंतर्गत जनपद में कल्याण भारती सेवा संस्थान  पिछड़े और अशिक्षित वर्ग को मुख्यधारा में लाने का प्रयास कर रहा है। संस्था के पदाधिकारी और कार्यकर्ता इस कार्य को बड़ी लगन शीलता के साथ कर रहे हैं।


मंगलवार को कल्याण भारती सेवा संस्थान के द्वारा आयोजित ग्राम बावली कश्यप चौपाल में स्वावलंबी नारी प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत, प्रशिक्षण पूर्ण कर चुकी प्रशिक्षार्थियों को संस्थान के प्रबन्ध निदेशक गोपी चन्द सैनी व प्रशिक्षण प्रभारी श्रीमति सीमा द्वारा प्रमाण-पत्र और उनके उत्तम स्वास्थय के लिये होम्योपैथिक इम्युनिटी बूस्टर वितरित किये गये।                             


भाई ने किया विरोध तो पीट-पीटकर हत्या की

सुल्तानपुरः विधवा बहन पर छींटाकशी करते थे शोहदे, भाई ने किया विरोध तो पीट-पीटकर की हत्या।


सुल्तानपुर / लखनऊ। सुल्तानपुर के सुल्तानपुर में क्राइम थमने का नाम नहीं ले रहा। यहां धम्मौर थाना क्षेत्र में शोहदों ने एक विधवा के साथ अश्लीलता और छींटाकशी की। भाई ने विरोध किया तो शोहदे घर तक चढ़कर आए और मारपीट किया। इस दौरान बीच बचाव में आए विधवा के भाई की शोहदों ने हत्या कर दी। आरोप है कि शोहदे धारदार हथियार से लैस थे। हालांकि पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।
मामला जिले के धम्मौर थाना अन्तर्गत अमेठा बहेलिया गांव का है। इस गांव की निवासी विधवा मंजू देवी का आरोप है कि गांव के ही जय प्रकाश और अर्जुन उस पर छींटाकशी और अश्लीलता करते थे। विरोध पर गालियां देते और जान से मारने की धमकी देते थे।
घर में घुसकर की मारपीट
सभी बीते सोमवार को लाठी-डंडे और धारदार हथियार से लैस होकर विधवा के घर पर आए और गाली गलौज करने लगे। विधवा ने विरोध किया तो आरोपी अपने साथियों के साथ घर में घुस आए। जहां सभी ने मारापीट शुरू कर दिया। बीच बचाव में विधवा की मां और भाई आ गए तो आरोपियो ने उन्हें भी पीटा।
मंगलवार को इलाज के दौरान हुई मौत।
आरोप है कि विधवा के भाई भरत लाल समेत कई इस मारपीट में घायल हो गए। आनन-फानन में सभी को अस्पताल ले जाया गया। जहां मंगलवार को इलाज के दौरान विधवा के भाई भरत की मौत हो गई। इस मामले मे एसपी ने बताया कि पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपियो की तलाश शुरू कर दिया है।                 


पत्रकार की बेटी को जिंदा जलाने का मामला

पत्रकार की बेटी को जिंदा जलाने का मामला, परोल पर आए पिता ने किया अंतिम संस्कार, कठघरे में पुलिस।


सुल्तानपुर। परोल पर बाहर आए पत्रकार ने अपनी बेटी का अंतिम संस्कार किया। इस दौरान उन्होंने सुलतानपुर पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए। सोमवार को पत्रकार की बेटी को जिंदा जलाने का मामला सामने आया था। इस मामले में तीन आरोपी हिरासत में हैं।
यूपी के सुलतानपुर में पत्रकार की बेटी को जिंदा जलाने का मामला
पिता ने परोल पर जेल से बाहर आकर किया बेटी का अंतिम संस्कार।
पीड़ित पिता ने थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज पर लगाए गंभीर आरोप।
कहा- अब तक पुलिस ने इस मामले में नहीं की कोई भी गिरफ्तारी।
सुलतानपुर।
यूपी के सुलतानपुर जिले में पत्रकार की बेटी को जिंदा जलाने का मामला चर्चा में है। मृतका का मंगलवार को अंतिम संस्कार किया गया। इस बीच जेल में बंद मृतका के पिता ने परोल पर पहुंचकर अंतिम संस्कार में हिस्सा लिया। उन्होंने इस दौरान बल्दीराय थाने के प्रभारी और देहली बाजार चौकी इंचार्ज पर गंभीर आरोप लगाए। फिलहाल पुलिस ने हत्याकांड से जुड़े चार में से तीन आरोपियों को पकड़ने की बात कही है।
मंगलवार की रात हुआ अंतिम संस्कार।
मंगलवार रात बल्दीराय थाना क्षेत्र का टरणसा मजरे ऐंजर गांव छावनी में तब्दील था। भारी संख्या में पुलिस बल लगाकर पत्रकार प्रदीप सिंह की बेटी श्रद्धा सिंह का अंतिम संस्कार कराया गया। यहां लोगों की भारी भीड़ जमा थी। इस बीच परोल पर बेटी के अंतिम संस्कार में पहुंचे प्रदीप को देखकर उनकी पत्नी फूट-फूटकर रोने लगीं। उन्होंने पति से पुलिस की कथित बर्बरता का जिक्र करते हुए कहा कि एसओ कुछ भी करा सकते हैं।
पिता बोले- गिरफ्तारी न होने से बढ़ा आरोपियों का मनोबल
लड़की के पिता पत्रकार प्रदीप सिंह ने मीडिया को बताया, 'पहले जो एफआईआर हुई थी, उसमें आजतक पुलिस ने कोई गिरफ्तारी नहीं की। एसओ बल्दीराय ने धारा बदल दी। आरोपियों की गिरफ्तारी न होने का ये नतीजा है कि आज जो मनोबल बढ़ा है।' प्रदीप ने आरोप लगाया कि पूर्व में जो घटना हुई उसमें चौकी इंचार्ज ने बदलाव कर नई तहरीर ली है। पहली तहरीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई है। सभी के पास मौजूद है नहीं होगी तो हम उपलब्ध करा देंगे। चौकी इंचार्ज खुर्शीद अहमद पूरी तरह से विरोधियों से मिले हुए हैं। उन्होंने ये भी कहा कि एसओ ने मुकदमा 302 में चार्जशीट किया है, जबकि मुकदमा 304 का है।
मेडिकल के आधार पर पुलिस ने कम की धारा।
दरअसल 2 जून को हुई घटना में स्थानीय पुलिस पर एकतरफा कार्रवाई का आरोप लगा था। बाद में प्रदीप की पत्नी अर्चना की तहरीर पर आईजी रेंज फैजाबाद डॉक्टर संजीव गुप्ता के निर्देश पर जानलेवा हमले समेत आईपीसी की 10 धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था। इसमें बेटी के हत्यारोपी भी शामिल हैं। पुलिस अधिकारी के अनुसार मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर बाद में 307 की धारा आरोपियों पर से हटा दी गई थी। जो हत्यारोपियों के लिए संजीवनी का काम कर गई। अन्य धाराओं में लॉकडाउन की ढाल लेकर पुलिस ने उन्हें बाहर घूमता छोड़ दिया।
मामले के तीन आरोपी हिरासत में
फिलहाल सोमवार को बिटिया श्रद्धा को जिंदा जलाने वाले दरिंदों के खिलाफ पुलिस ने मां की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस अधीक्षक कार्यालय से दी गई जानकारी के अनुसार नामजद 3 आरोपियों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जबकि एक आरोपी पिछले एक महीने से हरियाणा में रह रहा है। वैसे पूरे मामले में सुस्त पुलिस अब नया मामला दर्ज होने के बाद एक आरोपी के हरियाणा में होने की बात कर रही है। इस पूरे मामले में पुलिसिया कार्रवाई चौतरफा सवालों के घेरे में है।             


वेब के माध्यम से कांग्रेस की दो बड़ी बैठकें

रायपुर। मोंदी सरकार के किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ आंदोलन की रणनीति पर चर्चा हेतु आज 23 सितंबर बुधवार को शाम 4 बजे प्रदेश काग्रेस कार्यकारिणी, सांसदों, विधयकों, प्रदेश कांग्रेस के विभिन्न विभाग प्रमुखों और मोर्चा-संगठन प्रमुखों की बैठक रखी गई है।

शाम 5 बजे से दूसरी बैठक में प्रदेश कांग्रेस कार्यकारिणी के सभी सदस्यों, जिलों के प्रभारी पदाधिकारियो और सभी जिला कांग्रेस अध्यक्ष शामिल होंगे। दोनों ही बैठकों में छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मोहन मरकाम उपस्थित रहेंगे। दोनों ही बैठकें वेब द्वारा होगी।               


सेक्टर-21 में बनायेंगे फिल्म सिटीः योगी

लखनऊ। उतर प्रदेश में फिल्म सिटी के लिए यमुना अथारिटी का प्रस्ताव सबसे अच्छा रहा अब यमुना अथारिटी ही सेक्टर 21 मे बनाएगी फिल्म सिटी।

फ़िल्म जगत की हस्तियों ने किया स्वागत, किसने क्या कहा.

अनुपम खेर,अभिनेता आज का मौका उत्सव का है। योगी जी की क्षमता पर सभी को भरोसा है। यूपी की फ़िल्म सिटी यूपी में तो होगी लेकिन पूरी दुनिया इसे अपना मानेगी। यह ताजमहल की तरह ही दुनिया भर को आकर्षित करने वाली हो। इसकी स्थापना की पहली बैठक में आमंत्रित कर योगी जी ने हमें इतिहास में दर्ज कर दिया। योगी जी के इस सपने को साकार करने में अगर मैं भी भागीदार हो सका तो यह मेरा सौभाग्य होगा।

परेश रावल, चेयरमैन नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा:बहुत स्वागतयोग्य कदम है। योगी जी यह स्वप्न पूरा भी करेंगे, मुझे विश्वास है। फ़िल्म पटकथा लेखन को लेकर योगी जी कोई प्रयास करें तो बहुत सहायता मिलेगी। यह रीजनल सिनेमा को भी पुनर्जीवन देने वाला आयाम सिद्ध होगा।

राजू श्रीवास्तव, अध्यक्ष उत्तर प्रदेश फ़िल्म विकास निगम मुझे हर्ष है ।कि योगी जी ने फ़िल्म जगत को नया विकल्प देने की दिशा में कोशिश की है। यह छोटे-छोटे शहरों की अद्भुत प्रतिभाओं के हौसलों, सपनों को पंख देने वाला होगा। मैं हर समय, पूरी क्षमता के साथ सेवा के लिए प्रस्तुत रहूंगा। योगी जी को आभार, अभिनन्दन।

मनोज जोशी, अभिनेता अद्भुत और अनुपम प्रयास है। पंजाबी, बंगाली, हिंदी, सहित 12 भारतीय भाषाओं के फिल्मोद्योग का महाद्वार होगी यह फ़िल्म सिटी। इसे इको-फ्रेंडली बनाने की कोशिश हो। आज ओटीटी प्लेटफार्म पर हिंदी पट्टी की कहानियां छायी हुई हैं। आज 70 फीसदी टेक्नीशियन उत्तर प्रदेश के हैं। रंग कर्म में यूपी अत्यंत समृद्ध है। इन सभी को ‘आत्मनिर्भर’ बनाने में यह नवीन फ़िल्म सिटी अत्यंत उपयोगी हो सकती है। यह प्रदेश के औद्योगिक, पर्यटन विकास को नई दिशा प्रदान करने वाली होगी।

अनूप जलोटा, गायक:

बहुत अभिनन्दनीय प्रयास है। इसके लिए पूरी दुनिया के फ़िल्म सिटीज का अध्ययन किया जाना चाहिए। उनकी खूबियों, कमियों को समझना चाहिए। आवश्यकताओं के लिहाज से सुविधाएं दी जाएं। यह दुनिया के लिए महत्वपूर्ण प्रयास है। मेरी शुभकामनाएं।

कैलाश खेर, गायक: आज जब योगी स्वयं नेतृत्व कर रहे हैं, तो कोई भी कार्य असाध्य नहीं है।दुनिया में फ़िल्म सिटी के नाम पर लाखों किले खड़े हैं, लोगों ने 70 साल में क्या हाल कर दिया कि घिन आती है, शर्म आती है। उत्तर प्रदेश देवताओं की पुण्य भूमि है। दुनिया को राह दिखाने वाली है।योगी जी की यह दुनिया भारतीय संस्कृति को पोषित करने वाली हो। कला साधकों को सम्मान मिले। ऐसा जरूर होगा, यह मेरा विश्वास है। बाकी योगी जी आदेश करें, हम धावक हैं दौड़ पड़ेंगे।

सतीश कौशिक, निर्माता निर्देशक: यूपी शूटिंग फ्रेंडली जगह रही है। मैंने बहुत काम किया है यहां। आज का दिन पूरी दुनिया के कला क्षेत्र के लिए ऐतिहासिक है। योगी जी फ़िल्म जगत को एक नवीन विकल्प दे रहे हैं। आज जो प्रेजेंटेशन दिखाया गया, वह हमें एक बेहतर भविष्य की छवि दिखा गया। आपने हम कलाकारों को एक नया आधार दिया है। यूपी की संस्कृति ने भारतीय फिल्मों को शुरू से ही प्रभावित किया है, अब यहां की फ़िल्म सिटी पूरी दुनिया को प्रभावित करेगी। मेरी बहुत शुभकामनाएं, योगी जी को बहुत धन्यवाद।

उदित नारायण, पार्श्व गायक:योगी जी ने बहुत कम समय में बहुत खूबसूरत काम किया है। ऐसे में फ़िल्म सिटी की घोषणा से हम सभी का उत्साहित होना लाजिमी है। मैं 40 साल फ़िल्म जगत का हिस्सा रहा हूँ। योगी जी के इस बड़े सपने को साकार करने में अगर मैं भी कुछ योगदान कर सका तो जीवन को धन्य समझूंगा।

मनोज मुन्तशिर, गीतकार:योगी जी ने करोड़ों प्रतिभाओं को पंख दे दिए। 75 साल से हिंदी पट्टी इसका इंतजार कर रही थी। यूपी की भाषा तो दुनिया में फैल गई, लेकिन यूपी की कहानियां नहीं सुनाई गईं। योगी जी से अनुरोध है कि एक फ़िल्म इंस्टिट्यूट और म्यूजिक इंस्टिट्यूट की स्थापना की दिशा में भी विचार करें। आल्हा ऊदल, महामना मालवीय जैसे महामानवों से नई पीढ़ी को परिचित कराने की कोशिश हो।मुझे आज यूपी वाला होने पर बहुत गर्व है।

ओम राउत, फ़िल्म निर्माता:बहुत शानदार विजन है। हम इस फ़िल्म सिटी में आर्टिस्ट, टेक्नीशियन आदि की ट्रेनिंग की व्यवस्था भी कर सकें, तो बेहतर होगा। यूपी में अब भी फिल्मों का प्रसार बहुत कम है। Nथियेटर कम हैं। यहां विकास की बहुत संभावना है। यूपी की यह फ़िल्म सिटी नई प्रतिभाओं को मंच देने वाली होगी।           

पिस्टल नोक पर नाबालिक से रेप, आत्महत्या

नरेश राघानी


धौलपुर। राजस्थान के धौलपुर जिले के एक गांव में 14 वर्षीय नाबालिग से पिस्टल की नोक पर रेप के मामले में दो आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। नाबालिग ने सदमे में आकर सोमवार को फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। दुष्कर्म की ये वारदात पूरे प्रदेश में सुर्खियों में रही थी। वारदात के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने भी कांग्रेस सरकार पर कानून व्यवस्था बिगड़ने पर कड़ा प्रहार किया है। तो वहीं राजस्थान बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष धौलपुर पुलिस से प्रसंज्ञान लिया और मामले की रिपोर्ट मांगी। पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर मंगलवार को कोर्ट में पेश किया, जहां से दोनों आरोपियों को पीसी रिमांड पर भेज दिया गया है। पुलिस ने मामले की रिपोर्ट बाल कल्याण समिति को भी भेजी है।


बता दें, बसेड़ी थाना इलाके के एक गांव में रविवार-सोमवार की देर रात करीब 12-1 बजे के बीच में आरोपी 22 वर्षीय बंटी और 19 वर्षीय हरिकेश एक युवती के कमरे में घुस गए। दोनों आरोपियों ने नाबालिग को जगाकर अवैध पिस्टल की नोक पर बारी-बारी से दुष्कर्म किया। कमरे से चीखने-चिल्लाने की आवाज आने लगी। इस दौरान परिवार के अन्य सदस्य भी आवाज सुनकर जाग गए। जब उन्होंने कमरे का दरवाजा खोला तो दोनों आरोपी हथियार सहित निकलते हुए दिखाई दिए। दोनों आरोपी परिजनों को देख भागने लगे। इस दौरान परिजनों ने दौड़कर बंटी को दबोच लिया। वहीं, दूसरा आरोपी हरिकेश अंधेरे का फायदा उठाकर फरार हो गया। परिजनों को नाबालिग कमरे में काफी नाजुक स्थिति में मिली थी। नाबालिग ने परिजनों को बताया कि दोनों आरोपियों ने उसके साथ हैवानियत को अंजाम दिया है।


परिजनों ने एक आरोपी बंटी को पकड़कर हाथ-पैर बांधकर जमकर मारपीट कर दी और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। परिजनों ने आरोपी बंटी के दोनों पैर बांधकर उल्टा लटका कर पेड़ से बांध दिया। उसके बाद आरोपी के साथ परिजनों और ग्रामीणों ने जमकर मारपीट की। वारदात के बाद 14 वर्षीय नाबालिग ने सदमे में आकर पंखे से फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली।


वारदात से पूरे जिले में सनसनी फैल गई. हालांकि, एक आरोपी को परिजनों ने पकड़कर पुलिस को सुपुर्द किया था। पुलिस उप अधीक्षक प्रवेंद्र ने बताया कि सोमवार को ही दोनों आरोपियों के खिलाफ 376 डी, 306 आईपीसी और 3,4 पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज किया था। पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ शुरू कर दी है। उधर जिले की वारदात पूरे प्रदेश में सुर्खियों में हैं। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार पर तीखे प्रहार किए हैं। उन्होंने ट्विटर के माध्यम से कहा कि प्रदेश में गैंगरेप, दुष्कर्म, बलात्कार, आत्महत्या, बजरी माफियाओं के दुस्साहस, लूट, मिलावट, सट्टा, झांसा, नकबजनी, चोरी जैसी घटनाएं आम हो गई हैं। अशोक गहलोत के नेतृत्व में अपराधियों ने कोरोना आपदा को अवसर मान लिया है। तो वहीं, राजस्थान बाल संरक्षण आयोग की अध्यक्ष ने धौलपुर पुलिस से मामले की रिपोर्ट मांगी थी, जो पुलिस ने भेज दी।


चुनाव आयोग ने जारी की गाइडलाइन

यूपी पंचायत चुनाव:चुनाव आयोग ने बीएलओ के लिए जारी की ये गाइडलाइन।


लखनऊ। यूपी में होने वाले त्रि-स्तरीय पंचायत चुनाव के लिए पहली अक्तूबर से वोटर लिस्ट पुनरीक्षण शुरू होगा। अगर आपके घर पर बूथ लेबल आफिसर (बीएलओ) नहीं आता है तो आप उसे फोन कर घर पर बुला सकते हैं। राज्य निर्वाचन आयोग की वेबसाइट http//sec.up.nic.in पर पंचायतवार हर वार्ड के लिए तय बीएलओ का नाम व उसका मोबाइल नम्बर उपलब्ध रहेगा।
अपर निर्वाचन आयुक्त वेद प्रकाश वर्मा ने बताया कि राज्य निर्वाचन आयोग की वेबसाइट http//sec.up.nic.in पर जाकर ‘सर्च बीएलओ’ पेज पर जाकर आप अपनी पंचायत के अपने वार्ड के बीएलओ का नाम व फोन नम्बर पता कर सकते हैं। अगर बीएलओ ठीक से काम नहीं कर रहा है या उससे आपको कोई शिकायत है तो आप प्रशासन से उसकी शिकायत भी कर सकते हैं। आयोग के नम्बर– 0522-2630130, फैक्स नम्बर–0522- 2630115 , 2630134 और ई-मेल आईडी पर भी–secup@secup.in, secup@up.nic.in पर भी सम्पर्क किया जा सकता है।
चुनाव आयोग की तरफ से बीएलओ व अन्य कार्मिकों के लिए गाइड लाइन।
-वोटर लिस्ट पुनरीक्षण के काम में लगे बीएलओ व अन्य कार्मिकों को अपने मोबाईल फोन पर आरोग्य सेतु डाउनलोड रखना होगा।
-कोई कार्मिक जब फील्ड में जाए तो उसे फेस मास्क लगाए रखना होगा।
-किसी भी घर के एक या दो सदस्यों से ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए दो गज की दूरी से ही बात की जाएगी।
-अनावश्यक भीड़ इकट्ठा करके एक साथ कई परिवारों का विवरण दर्ज नहीं किया जाएगा।
-हैण्ड सैनिटाइजर की शीशी साथ रखनी होगी। किसी भी दस्तावेज को देखने या उस पर हस्ताक्षर कराने के बाद हाथों का सैनिटाइज किया जाएगा।
वोटरों का ब्यौरा देने के लिए घर के मुखिया को सलाह
-बीएलओ जब आपके घर आए तो दो गज का फासला बनाकर चेहरे पर फेस मास्क लगाकर उसके प्रश्नों का उत्तर दें।
-प्रयास यही हो कि घर का मुखिया अपने पूरे परिवार के सभी सदस्यों के नाम, पिता का नाम, लिंग व आयु का विवरण दे।
– पिछले पांच वर्ष में अगर आपके परिवार में माता-पिता या किसी अन्य सदस्य का देहांत हुआ तो उसका भी विवरण भी बीएलओ को दें।
-बीएलओ के मांगने पर उसे निवास का प्रमाण-पत्र, आधार कार्ड, राशन कार्ड आदि उपलब्ध करवाएं।
-जब बीएलओ आपके घर आए तो आसपास के पड़ोसियों की भीड़ एकत्रित न होने दें।               


बच्चों को रैशेज, घर पर ऐसे बनाए रैशेज क्रीम

डायपर से हो रहे बच्चे को रैशेज तो घर पर ऐसे बनाएं रैशेज क्रीम


जब आप पहली बार मां बनती हैं। तो आप अपने नवजात का ख्याल 24 घंटे रखती हैं। आजकल के दौर में कामकाजी माताओं के पास समय की कमी होने की वजह से वह अपने शिशु को हमेशा डायपर पहनाकर रखती हैं। ताकि वह गीलेपन की समस्या से छुटकारा पा सकें। लेकिन डायपर को लंबे वक्त तक पहने रहने की वजह से शिशु को डायपर रैश की समस्या से दोचार होना पड़ता है। यह रैश त्वचा में स्थित नमी और बैक्टीरिया के कारण पैदा होते हैं। रैशज की वजह से बच्चे को रेडनेस, जलन और दर्द झेलना पड़ता है।
कई बार शिशु की नाजुक त्वचा की वजह से माताएं किसी क्रीम या मेडिकल ट्रीटमेंट का इस्तेमाल करने से बचती हैं। ऐसे में हम आपके लिए लेकर आए हैं कुछ प्रभावी होममेड डायपर रैशेज क्रीम बनाने की विधियां, जो आपके शिशु को रैशेज की समस्या से छुटकारा दिलाने में सुरक्षित और कामगार हैं।
जिंक ऑक्साइड के साथ रैश क्रीम: जिंक ऑक्साइड के साथ रैश क्रीम आपके बच्चे को रैश की जलन और सूजन से राहत दिलाने में प्रभावी है क्योंकि इसमें कसैला, सुखदायक और रक्षात्मक गुण होते हैं। यह एक अकार्बनिक रसायनिक यौगिक है जिसका इस्तेमाल अक्सर दवाओं में घटक के रूप में किया जाता है।
सामग्री।नॉन-नैनोपार्टिकल जिंक ऑक्साइड के 3 बड़े चम्मच।
1 बड़ा चम्मच वर्जिन कोकोनट ऑयल।
द कप कच्चा आर्गेनिक शीया बटर।
कैमोमाइल एसेंशियल ऑयल की 2-3 बूंदें।
लैवेंडर एसेंशियल ऑयल की 2-3 बूंदें।
बनाने की विधि: एक कांच के बाउल में सभी सामग्रियोंं को डाल लें। इन सभी को अच्छे से मिला लें। जब यह मिश्रण क्रीम की तरह बन जाए तो इसे किसी कंटेनर में स्टोर कर लें और बच्चे के रैशेज वाली जगह पर इसे लगाएं। यदि आपके बच्चे को बैक्टीरियल इंफेक्शन हो गया है।तो आप कैमोमाइल या लैवेंडर की जगह टी ट्री ऑयल का इस्तेमाल करें। हालांकि, यदि आपका बच्चा 3 महीने से कम उम्र का है तो आप किसी भी तरह के एसेंशियल ऑयल को उपयोग करने से बचें।
मोम के साथ रैश क्रीम: यह एक गाढ़ी क्रीम है और इसे रैश स्टिक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। यह उपयोग करने के लिए बहुत सुविधाजनक है और यह कम गंदा भी होता है।             


शुरू हो सकती है कुशीनगर से हवाई सेवा

लखनऊ। योगी सरकार पूर्वांचल के लोगों को दीपवाली के अवसर पर तोहफा देने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दीपावली तक कुशीनगर हवाई अड्डे से अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने की घोषणा की है।

मुख्यमंत्री योगी ने गोरखपुर, देवरिया, कुशीनगर के ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व का उल्लेख करते हुए कहा कि यह पूरा क्षेत्र बौद्ध परिपथ का हिस्सा है। दीपावली के अवसर पर कुशीनगर से अंतरराष्ट्रीय वायु सेवा शुरू करने की योजना है। यह एयरपोर्ट विदेशी धर्मावलंबियोंको सुगमता प्रदान करने वाला होगा।

मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के गृह क्षेत्र गोरखपुर से लगभग 52 किलोमीटर दूर कुशीनगर जिले में स्थित इस हवाई अड्डे को पडरौना हवाई अड्डे के रूप में भी जाना जाता है। ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में इस साल जून में कुशीनगर को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में मान्यता देने का निर्णय लिया गया था। कुशीनगर देश में 29वां और यूपी में आगामी जेवर हवाई अड्डे सहित चौथा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा होगा।               

राजस्थान ने चेन्नई को 16 रन से हराया

आईपीएल 2020: एमएस ने जड़ा ऐसा तूफानी छक्का… स्टेडियम पार गई गेंद, तो बॉल चुराकर भागा शख्स… देखें।

 

जयपुर। राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपर किंग्स  के बीच आईपीएल (आईपीएल 14) मुकाबला खेला गया, जहां राजस्थान ने चेन्नई को 16 रन से हरा दिया।इसी के साथ राजस्थान रॉयल्स ने आईपीएल में अपना विजयी आगाज किया।

सीएसके भले ही मुकाबला हार गया हो, लेकिन एमएस धोनी  ने आखिर में फैन्स को खूब इंटरटेन किया।उन्होंने लगातार तीन छक्के जड़े।छक्के इतनी दूर थे कि बॉल स्टेडियम पार कर रही थी।आईपीएल ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर किया है, जहां एक शख्स बॉल चुराकर ले जाता दिख रहा है।सोशल मीडिया पर यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है।

आखिरी ओवर राजस्थान की तरफ से टॉम करन कर रहे थे। 4 गेंदों पर 36 रन बनाने थे। धोनी क्रीज पर आए और लगातार तीन छक्के जड़ दिए।एक छक्का उन्होंने स्टेडियम पार मारा।बॉल सड़क पार कर गई और बॉल गुम हो गई।

फिर दूसरी गेंद मंगाई गई। नई गेंद आते ही उन्होंने एक और छक्का जड़ा। उनके छक्के देख फैन्स जीत और हार भूल गए। उनको मतलब नहीं था कि चेन्नई सुपर किंग्स हार रहा है या जीत रहा है। उनको धोनी के छक्के देखने में मजा आ रहा था।                   

पीएम ने की 7 राज्यों के सीएम संग बैठक




PM मोदी की इन 7 राज्यों के CM संग अहम बैठक आज

 

नई दिल्ली। करो ना में कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी बुधवार को महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश सहित सात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों और स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक करेंगे और इन राज्यों में कोरोना वायरस संक्रमण की वर्तमान स्थिति की समीक्षा करेंगे। कोरोना के 63 फीसदी सक्रिय मामले इन सात राज्यों में हैं। इस बैठक में महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश के अलावा आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, दिल्ली और पंजाब के मुख्यमंत्री और स्वास्थ्य मंत्री भी शामिल होंगे। देश में कोरोना के कुल पुष्ट मामलों का 65.5 फीसदी और कुल मृत्यु के 77 फीसदी मामले भी इन्हीं राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से हैं। पंजाब और दिल्ली में हाल ही में कुल मामलों की संख्या में काफी तेज वृद्धि दर्ज की गई है। महाराष्ट्र, पंजाब और दिल्ली में मृतकों की संख्या भी काफ़ी बढ़ी है। इन राज्यों में मृत्यु दर 2 प्रतिशत से अधिक है। जो कि मृत्यु दर का उच्च औसत है। पंजाब और उत्तर प्रदेश के अलावा उनकी संक्रमण की पुष्टि दर राष्ट्रीय औसत 8.52 प्रतिशत से अधिक है।             




मृतक-90 हजार, संक्रमित-56,46,011

देश में लगातार पांचवें दिन स्वस्थ होने वालों की संख्या नए मामलों से अधिक

नई दिल्ली। देश में लगातार पांचवें दिन कोरोनामुक्त होने वालों की संख्या संक्रमण के नए मामलों से अधिक रही और पिछले 24 घंटों के दौरान 89 हजार से अधिक लोगों ने इस महामारी को मात दी, जिससे सक्रिय मामलों में और गिरावट दर्ज की गई तथा यह महज 17.15 प्रतिशत रह गए।

केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटों में 89,746 मरीज स्वस्थ हुए हैं जिसके साथ ही अब तक कोरोना मुक्त होने वालों की संख्या 45,87,614 हो गयी है। इससे पहले शनिवार को 95,880, रविवार को 94,612, सोमवार को 93,356 और मंगलवार को 1,01,468 लोग स्वस्थ हुए थे। संक्रमण के नये मामलों की तुलना में स्वस्थ होने वालों की संख्या अधिक होने से पिछले 24 घंटों में सक्रिय मामलों की संख्या में 7,484 की कमी आयी है और अब यह 9,68,377 रह गयी है।

सक्रिय मामले शनिवार को 3790, रविवार को 3140, सोमवार को 7525 और मंगलवार को 27,438 कम हुए थे। पिछले 24 घंटे में 83,347 मामले सामने आये हैं जिससे संक्रमितों की कुल संख्या 56,460,11 पर पहुंच गयी है। इसी अवधि में 1,085 मरीजों की मौत हो गयी जिससे संक्रमण से जान गंवाने वालों की संख्या 90 हजार का आंकड़ा पार कर 90,020 पर पहंच गयी है। रोगमुक्त होने वालों की दर 81.25 प्रतिशत हो गयी है। देश में सक्रिय मामले 17.15 प्रतिशत तथा मृत्यु दर 1.59 फीसदी है।

देश के 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में सक्रिय मामले कम हुए हैं। आंध्र प्रदेश में इनमें सबसे अधिक 3,053 और लद्दाख में सबसे कम 19 की कमी आयी है। कोरोना महामारी से सबसे अधिक प्रभावित महाराष्ट्र में सक्रिय मामले 2,208 कम होकर 2,72,809 रह गये हैं जबकि 392 लोगों की और मौत होने से मृतकों की संख्या 33,407 हो गयी है। इस दौरान 20,206 लोग संक्रमणमुक्त हुए जिससे स्वस्थ हुए लोगों की संख्या बढ़कर 9,36,554 हो गयी।

दक्षिणी राज्य कर्नाटक में पिछले 24 घंटों के दौरान मरीजों की संख्या में 2,182 की कमी हुई है और राज्य में अब 93,172 सक्रिय मामले हैं। राज्य में मरने वालों का आंकड़ा 8,228 पर पहुंच गया है तथा अब तक 4,32,450 लोग स्वस्थ हुए हैं। आंध्र प्रदेश में इस दौरान मरीजाें की संख्या 3,053 कम होने से सक्रिय मामले 71,465 रह गये। राज्य में अब तक 5461 लोगों की मौत हुई है। वहीं कुल 5,62,376 लोग संक्रमणमुक्त हुए हैं।               

पर्यावरण के विषय पर डीएम ने की बैठक

पर्यावरणीय दृष्टिकोण के संबंध में जिलाधिकारी ने की बैठक।


गोपी चंद सैनी


बागपत। जिलाधिकारी श्रीमती शकुन्तला गौतम ने कलेक्ट्रेट सभागार में पर्यावरण के दृष्टिकोण के संबंध में संबंधित जनपद के एसडीएम, तहसीलदार व नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों के साथ नगर निकायों की प्रगति का अनुश्रवण किए जाने के संबंध में आवश्यक बैठक की जिलाधिकारी ने  संबंधित को निर्देश देते हुए कहा, कि जनपद में आठ निकाय हैं, जिसमें से 5 निकायों में ही भूमि की उपलब्धता है। जिसमें छपरौली, बागपत, खेकड़ा  अन्य निकायों के लिए भी भूमि चिन्हित करें । जिलाधिकारी ने कहा ठोस अपशिष्ट प्रबंधन हेतु भूमि की उपलब्धता सुनिश्चित करें ।जिलाधिकारी ने समस्त एसडीएम तहसीलदार व  नगर निकाय के अधिशासी अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि राजस्व वसूली के संबंध में अब प्रत्येक सप्ताह बुधवार को  अपर जिलाधिकारी  की अध्यक्षता में बैठक की जाएगी उन्होंने कहा राजस्व वसूली में तीव्रता लाई जाए उन्होंने कहा तहसीलदार क्षेत्रों में भ्रमण के लिए निकले।
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी अमित कुमार सिंह, समस्त एसडीएम आदि उपस्थित रहे ।             


राज्यसभा अनिश्चित काल के लिए स्थगित

कोरोना महामारी के मद्देनजर राज्यसभा की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित।

नई दिल्ली। राज्यसभा के 252 वें सत्र की कार्यवाही कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न असाधारण स्थिति के मद्देनजर बुधवार को निर्धारित अवधि से पहले ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गई।

राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने मानसून सत्र की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित किये जाने से पहले अपने समापन वक्तव्य में कहा कि कोरोना महामारी के कारण उत्पन्न असाधारण हालातों को देखते हुए सदन की कार्यवाही निर्धारित तिथि आगामी एक अक्टूबर से पहले आज ही स्थगित की जा रही है। सत्र की शुरूआत गत 14 सितम्बर को विशेष सुरक्षा और स्वास्थ्य संबंधी एहतियाती कदमों के साथ शुरू हुई थी।

नायडू ने कहा कि निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार इस सत्र में सदन की 18 बैठकें होनी थी लेकिन केवल 10 बैठकें ही हो सकी हैं। उन्होंने सत्र के दौरान हुए कामकाज पर संतोष व्यक्त किया लेकिन इस दौरान सदन में विपक्ष के व्यवहार को लेकर चिंता भी व्यक्त की। उन्होंने उम्मीद जतायी कि भविष्य में इस तरह का अशोभनीय आचरण नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि इस दौरान 25 विधेयक पारित किये गये और छह पेश किये गये। शून्यकाल में 92 और विशेष उल्लेख के तहत 62 मुद्दे उठाये गये। इसके अलावा रक्षा मंत्री ने चीन सीमा पर स्थिति और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डा हर्षवर्धन ने कोरोना महामारी के संबंध में वक्तव्य दिये।             

डीएम शकुन्तला ने बनाया कोविड-19 सेंटर

आज कोविड-19 इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में जिलाधिकारी श्रीमती शकुन्तला गौतम जी ने कोविड-19।


बागपत। कोविड-19 इंटीग्रेटेड कोविड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में जिलाधिकारी श्रीमती शकुन्तला गौतम जी ने कोविड-19 के संबंध में बैठक की आज 1494  व्यक्तियों के सैंपल हुए जिसमें 7 कोरोना पॉजिटिव आये। जिलाधिकारी ने एल2  अस्पताल में  भर्ती  मरीजों से भी दूरभाष पर बात की उन्होंने सचिन, रमेश ,प्रदीप ,चंचल ,कोमल का भी कुशल क्षेम जाना और डॉक्टरों के आने की जानकारी ली सभी पेशेंटो ने बताया डॉक्टर तीन से चार बार राउंड लेते हैं ।जिलाधिकारी ने कंटेंटमेंट क्षेत्र में सैनिटाइजेशन, संदिग्ध मरीजों को चिन्हित करने व सर्विस लेंस को बढ़ाए जाने के निर्देश दिए जिलाधिकारी ने  मरीजों का अर्ली डिटेक्श के भी निर्देश दिए और कांटेक्ट ट्रेसिंग में तीब्रता लाने के कड़े निर्देश दिए।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी जिला विकास अधिकारी सीएमएस डिप्टी सीएमओ डॉक्टर यशवीर सीएचसी अधीक्षक विभास राजपूत, आदि उपस्थित रहे।                                   


धरना स्थगित, 20 घंटे बिजली सप्लाई की मांग

पूर्व विधायकों का धरना स्थगित, 20 घंटे बिजली सप्लाई की मांग।
गगन शर्मा 
आगरा। बिजली कटौती से परेशान किसानों की मांग को लेकर आगरा के चार पूर्व विधायकों ने दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम लि। ( डीवीवीएनएल) मुख्यालय पर धरना दिया। बीस घंटे बिजली सप्लाई की मांग पर अड़े इन विधायकों ने 14 घंटे की ही पूर्ण आपूर्ति के डीवीवीएनएल की एमडी के आश्वासन पर ही धरना स्थगित कर दिया।
देहात में किसानों की बिजली की समस्या को लेकर एत्मादपुर के पूर्व विधायक डॉ. धर्मपाल सिंह, फतेहपुर सीकरी के पूर्व विधायक ठा. सूरजपाल सिंह, खेरागढ़ के पूर्व विधायक भगवान सिंह कुशवाह, आगरा ग्रामीण के पूर्व विधायक कालीचरन सुमन और विधान परिषद के पूर्व सदस्य स्वदेश कुमार उर्फ वीरू सुमन डीवीवीएनएल के मुख्यालय पर पहुंचे। डीवीवीएनएल की एमडी सौम्या अग्रवाल के सामने दस घंटे की बजाय बीस घंटे बिजली उपलब्ध कराने की मांग रखी। जबकि दो दिन पहले ही चार घंटे सप्लाई बढ़ाकर 14 घंटे कर दी गई थी। एमडी ने पूरे 14 घंटा सप्लाई देने का आश्वासन दिया। इससे सभी लोग संतुष्ट हो गए और धरना स्थगित कर दिया। इस दौरान यहां सिचाई विभाग के अधिकारी भी पहुंच गए। उन्होंने भी किसानों से जुड़ी समस्याएं सुनी और साफ-सफाई कराकर भरपूर मात्रा में पानी छोड़ने का आश्वासन दिया।
16 अक्टूबर को कमिश्नरी का घेराव।
पूर्व विधायक धर्मपाल सिंह ने बताया कि 16 अक्टूबर को सभी विधानसभा क्षेत्रों के किसान तारघर पर पहुंचेंगे। इसके बाद अपनी मांगों को लेकर कमिश्नरी का घेराव करेंगे। मांग पूरी न होने पर यह धरना आंदोलन के रूप में परिवर्तित हो होगा। बिजली के लिए पूर्व विधायकों ने चेतावनी दी कि यदि शीघ्र ही उनकी समस्या का समाधान नहीं हुआ और ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति नहीं सुधारी गई तो अनिश्चितकालीन धरना दिया जाएगा।             


दर्दनाक हादसे में गई 4 लोगों की जान

बहराइच के हरदी थाना के रमपुरवा में हुआ दर्दनाक सड़क हादसा मैं गई 4 लोगो की जान।


बहराइच।  आज एक बार फिर बहराइच जिले में एक भयंकर सड़क हादसा होने की सूचना मिली है जिसके अंदर 4 लोगों की मौके पर मौत होने की खबर है।मिली जानकारी के मुताबिक हरिद्वार से सिद्धार्थनगर के तेतरा बाजार जा रही एक मारुति ईको गाड़ी यूपी 55 एबी 4154 जिसमें कुल 10 व्यक्ति सवार थे,जिले के थाना हरदी अंतर्गत चौकी रामपुरवा क्षेत्र में गूलर के पेड़ से टकरा जाने के कारण दुर्घटनाग्रस्त हो गई। और उसमें सवार चार व्यक्तियों की उपचार के दौरान मृत्यु हो गई, तथा शेष छह व्यक्तियों मे से 2 (अंकित एवं सच्चिदानंद पाठक) को गंभीर रूप से घायल होने के कारण ट्रामा सेंटर लखनऊ रेफर किया गया है,तथा शेष चार व्यक्ति जिला अस्पताल में इलाजरत है। गाड़ी के दुर्घटनाग्रस्त होने से उसके परखच्चे उड़ गये।सूत्रों के अनुसार इस दुर्घटना में नीता देवी उम्र 42 वर्ष ,निशा उम्र 7 वर्ष,मिश्रावती उम्र 44 वर्ष और रीता देवी उम्र 40 वर्ष की मौत होने की खबर है,जबकि विकास उम्र 32 वर्ष ,अंकित उम्र 17 वर्ष ,संगीता उम्र 23 वर्ष ,विशाल उम्र 15 वर्ष,सच्चिदानंद पाठक एवं दिलीप कुमार उम्र 24 वर्ष निवासी
तेतरा बाजार,सिद्धार्थनगर के घायल होने की खबर है।इस मामले से सम्बंधित के परिजनों को सूचित कर दिया गया है। पुलिस द्वारा बचाव कार्य पूर्ण किया जा चुका है। मौके पर पुलिस पहुँच गयी है और बचाव कार्य किया जा चुका है।             


हथियार बनाने की मशीन, गोली बरामद की

विहान सिंह राजपूत



भागलपुर। आगामी विधानसभा चुनाव और पर्व त्योहारों को लेकर भागलपुर पुलिस द्वारा चलाये जा रहे अभियान के तहत अपराध और अपराधियों पर नकेल कसने के साथ-साथ विधि व्यवस्था को बनाये रखने के लिए हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं। विशेष अभियान के तहत विगत कुछ दिनों में भागलपुर पुलिस को कई सफलताएं मिली है। मंगलवार को भी इसी अभियान के तहत पूर्व में आपराधिक घटनाओं को अंजाम दे चुके अपराधियों पर नजर रखी जा रही थी, इसी क्रम में भागलपुर एसएसपी को गुप्त सूचना मिली कि लोदीपुर थाना क्षेत्र के चकदरिया गांव में मिनी गन फैक्ट्री चलायी जा रही है, इसके बाद एसएसपी ने डीएसपी विधि व्यवस्था के नेतृत्व में विशेष टीम का गठन कर छापेमारी की गयी। इस दौरान टीम ने एक नहीं बल्कि अवैध रूप से चलाये जा रहे दो मिनी गन फैक्ट्री का उद्भेदन किया है, हथियार और जिंदा गोली सहित अवैध हथियार बनाने वाले मशीन और उपकरणों को भी बरामद किया है साथ ही मिनी गन फैक्ट्री चलाने वाले एक व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया है। बरामदगी के बाद अब पुलिस सूचना संकलन कर रही है कि अवैध मिनी गन फैक्ट्री में बनाये जा रहे हथियारों को कहां और किन लोगों को सप्लाइ किया जाता था।           


हिमाचल में कुल संक्रमित आंंकड़ा-12551

हिमाचल में ठीक होने वालों का आंकड़ा 8 हजार पार, आज 367 हुए रिकवर।


कुल आंकड़ा 12551, एक्टिव केस 4201 व अब तक 8207 हुए ठीक
शिमला। हिमाचल में कोरोना रिकवरी का आंकड़ा 8 हजार पार हो गया है। आज अब तक रिकॉर्ड 367 कोरोना पॉजिटिव ठीक हुए हैं। इसमें शिमला जिला में 130, ऊना में 118, मंडी (Mandi) में 108, बिलासपुर में 6 व किन्नौर में पांच लोग ठीक हुए हैं। वहीं, पिछले कल रात 9 बजे के बुलेटिन के बाद अब तक 113 नए मामले आए हैं। इसमें मंडी में 38, कुल्लू में 25, सिरमौर में 22, शिमला में 15, ऊना (Una) में 10, कांगड़ा में दो व हमीरपुर में एक मामला आया है। हिमाचल में कुल आंकड़ा 12551 पहुंच गया है। वहीं 4201 एक्टिव केस (Active Case) हैं। अब तक 8207 लोग ठीक हो चुके हैं। कोरोना मृत्यु का आंकड़ा 128 पहुंच गया है।
यह भी पढ़ें।होम क्‍वारंटाइन हुए वन मंत्री राकेश पठानिया।Covid-19 संक्रमित के संपर्क में आए थे।
किस जिला में कितनी डेथ व कितने हुए ठीक कांगड़ा जिला में 31, शिमला में 23, सोलन में 22, मंडी में 16, ऊना में 10, सिरमौर में आठ, चंबा (Chamba) में सात, हमीरपुर में पांच, कुल्लू में चार व बिलासपुर व किन्नौर में एक एक की जान गई है। सोलन में 1698, सिरमौर में 1194, कांगड़ा में 1185, बिलासपुर में 422, चंबा में 616, हमीरपुर में 680, किन्नौर में 118, कुल्लू में 341, लाहुल स्पीति में 20, मंडी में 688, शिमला में 505 व ऊना जिला में 736 ठीक हुए हैं।यह भी पढ़ें। हिमाचल में आज Corona के जितने मामले लगभग उतने ही हुए ठीक। आठ की मौत
किस जिला में कितने कुल मामले और एक्टिव केसक्बि लासपुर जिला में 657 कुल मामले हैं।और 234 एक्टिव केस हैं। चंबा में 727 कुल मामले, 100 एक्टिव केस, हमीरपुर में 819 कुल मामले और 134 एक्टिव केस, कांगड़ा में 1885 कुल मामले और 671 एक्टिव केस हैं। किन्नौर में 163 कुल मामले, 44 एक्टिव केस, कुल्लू (Kullu) में 493 कुल मामले और 146 एक्टिव केस, लाहुल स्पीति में 121 कुल मामले और 101 एक्टिव केस मंडी में 1398 कुल मामले और 694 एक्टिव केस शिमलार में 925 कुल मामले और 390 एक्टिव केस, सिरमौर में 1569 कुल मामले और 367 एक्टिव केस, सोलन में 2660 कुल मामले और 932 एक्टिव केस व ऊना में 1134 कुल मामले व 388 एक्टिव केस हैं।                                   


अभियान, सैकड़ों अरब डॉलर की परियोजनाएं: मंजूर

वाशिंगटन डीसी। दुनिया के सबसे संपन्न सात देशों (जी 7) के शिखर सम्मेलन में शनिवार को चीन मुख्य मुद्दा रहा। चीन की विस्तारवादी नीतियों के खिला...