शुक्रवार, 20 सितंबर 2019

विकलांग रेप विक्‍टिम की रिपोर्ट भी नहीं

आखिर कब सुधरेगी राजस्थान पुलिस। 
बलात्कार पीडि़त विकलांग विवाहित की रिपोर्ट तक दर्ज नहीं की। 
नागौर एसपी विकास पाठक का दावा पीडि़ता थाने पर नहीं आई। 

दोनों पैरों से विकलांग विवाहिता अपने साथ हुए बलात्कार की रिपोर्ट लिखवाने के लिए नागौर ने खुनखुना थाने से लेकर एसपी ऑफिस तक चक्कर लगा रही है और पीडि़ता की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। चूंकि पीडि़ता के दौनों पैरों में पोलियो है, इसलिए घिटस-घिसट कर चलती है, लेकिन फिर भी निर्दयी पुलिस कर्मियों को दया नहीं आ रही है। पीडि़ता अपने विकलांग पति के साथ चीख-चीख कर बलात्कारी युवक का नाम भी बता रही है। पीडि़ता का आरोप है कि युवक ने उसके पति को अपने शिक्षण संस्थान में नौकरी देने की एवज में धोखे से बलात्कार किया। 20 सितम्बर को जब न्यूज चैनलों में मामला उजागर हुआ तो नागौर के एसपी विकास पाठक ने कहा कि पीडि़ता थाने पर आई ही नहीं, इसलिए रिपोर्ट दर्ज नहीं हुई। जबकि पीडि़ता का कहना रहा कि वह पिछले दो माह से नागौर के खुनखुना थाने से लेकर एसपी ऑफिस तक के चक्कर लगा रही हंू, लेकिन रिपोर्ट नहीं लिखी जा रही है। उल्टे आरोपी युवक धमका रहा है। गंभीर बात तो यह है कि पीडि़ता ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर भी शिकायत दर्ज करवाई, लेकिन फिर भी कोई कार्यवाही नहीं हुई। सवाल उठता है कि जो पीडि़ता सरकारी पोर्टल पर शिकायत दर्ज करवा रही है क्या वह थाने पर रिपोर्ट लिखाने नहीं जाएगी? जाहिर है कि पुलस की कथनी और करनी में फर्क हैं। राजस्थान पुलिस के लिए इससे ज्यादा शर्मनाक बात नहीं हो सकती कि बलात्कार की शिकार विकलांग महिला रिपोर्ट लिखाने के लिए दर दर भटकना पड़े। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत स्वयं को गांधीवादी और संवेदनशील मानते हैं। ऐसे सीएम को चाहिए कि जिन पुलिस अधिकारियों ने लापरवाही बरती है उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही करें। पुलिस के बड़े अधिकारियों के कथनों पर भरोसा करने के बजाए पीडि़ता की बात को सही माना जाए। कोई विकलांग महिला यूं ही अपनी इज्जत दांव पर नहीं लगाएगी। नागौर पुलिस को भी चाहिए कि पीडि़ता की रिपोर्ट दर्ज कर आरोपी को तत्काल गिरफ्तार करे। प्रदेश के उन न्यूज चैनलों का भी आभार जिन्होंने इस संवेदनशील मामले को प्रमुखता से प्रसारित किया। 
एस.पी.मित्तल


अपराधी राजनेता स्वामी से सबक लें

पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी से अपराध करने वाले राजनेता सबक लें। 
कोर्ट ने जेल भेजा। मैं अपने कृत्यों पर शर्मिंदा हूं।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ और केन्द्र में नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकारें हैं, लेकिन इसके बावजूद भी 20 सितम्बर को तीन बार के भाजपा सांसद और अटल बिहारी वाजपेयी की एनडीए सरकार में गृह राज्यमंत्री रहे स्वामी चिन्मयानंद को रेप के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है। यह गिरफ्तारी चिन्मयानंद के शाहजांपुर (यूपी) के आश्रम से हुई है। आरोप है कि लॉ कॉलेज की छात्रा से चिन्मयानंद ने रेप किया है। रेप का आरोप लगाने वाली छात्रा और मीडिया पिछले कई दिनों से चिन्मयानंद की गिरफ्तारी की मांग कर रहा था। सुप्रीम कोर्ट ने भी संज्ञान लेकर हाईकोर्ट को दिशा निर्देश दिए। चौतरफा दबाव के बाद यूपी सरकार ने इस मामले में एसआईटी का गठन किया। अब चिन्मयानंद पुलिस के शिकंजे में हैं। चिन्मयानंद बलात्कारी हैं या नहीं, यह फैसला कोर्ट करेगी,लेकिन जो राजनेता यह समझते हैं कि अपराध करने पर उनका कुछ नहीं बिगड़ेगा, उन्हें चिन्मयानंद की गिरफ्तारी से सबक लेना चाहिए। अब जब देश में जागरुक मीडिया, अति सक्रिय न्यायपालिका और आलोचना से डरने वाला सरकारी तंत्र हैं तो फिर अपराधी को कोई संरक्षण मिलना मुश्किल है। वैसे भी चिन्मयानंद जैसे व्यक्तियों को ऐसे अपराधों से बचना चाहिए। चिन्मयानंद के समर्थक कह सकते हैं कि किसी महिला के साथ जोर जर्बदस्ती नहीं की, लेकिन सोशल मीडिया में चिन्मयानंद के जो वीडियो वायरल हुए हैं, उनसे चिन्मयानंद के कृत्य को घिनौना ही कहा जाएगा। भारतीय संस्कृति में साधु-संतों की परंपरा को सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है। यदि ऐसे लोग संस्कृति के विपरीत कृत्य करेंगे तो फिर अंगुली तो उठेगी ही। कुछ राजनेता समझते हैं कि बंद कमरे में कुकृत्य करने पर कोई नहीं देखेगा, लेकिन ऐसे राजनेता भी अब सावधान हो जाए। चिन्मयानंद के वीडियो बताते हैं कि अपने ही लोगों ने पोल खुलवा दी। चिन्मयानंद का धर्म, राजनीति और सामाजिक क्षेत्र में नाम था, लेकिन अब ऐसा नाम मिट्टी में मिल गया है। सवाल यह नहीं कि आरोप लगाने वाली लड़की ब्लैकमेल कर रही  थी, सवाल आपकी नैतिकता और आचरण का है। जब आप धर्म, राजनीति और सामाजिक क्षेत्र के मंच पर खड़े होकर जनता को उपदेश देते हैं। तब आपसे यह उम्मीद की जाती है कि आप स्वयं भी कहे मुताबिक आचरण करें। आप यदि बंद कमरों में अपने कॉलेज में पढऩे वाली छात्राओं से मालिश करवाएंगे और बाहर निकल बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ पर भाषण देंगे तो फिर लोग आप पर थूकेंगे ही। 
मैं अपने कृत्यों पर शर्मिंदा हंू-चिन्मयानंद:
गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में स्वामी चिन्मयानंद ने माना कि कॉलेज की लड़की को मालिश के लिए बुलवाया था। अपने इस कृत्य के लिए वे शर्मिंदा हैं। गिरफ्तारी के बाद चिन्मयानंद को कोर्ट में पेश किया गया, जहां 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। इस बीच एसआईटी ने बलात्कार का आरोप लगाने वाली लड़की के तीन दोस्तों को भी गिरफ्तार किया है। चिन्मयानंद की ओर से कराई गई एफआईआर में बताया गया कि लड़की के दोस्त पांच करोड़ रुपए की मांग कर रहे थे। चिन्मयानंद की ओर से इस बात के दस्तावेज भी पुलिस को दिए गए हैं। पुलिस ने इस मामले में आरोप लगाने वाली युवती को भी सहअभियुक्त बनाया है। मालूम हो कि एसआईटी की ओर से इस पूरे प्रकरण में 22 सितम्बर को हाईकोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट प्रस्तुत की जाएगी। 
एस.पी.मित्तल


महाराजा अग्रसेन जयंती का उपलब्ध

अजमेर में धूमधाम से होंगे अग्रसेन जयंती के कार्यक्रम। 
अधिक से अधिक अग्रवालों को जोडऩे का लक्ष्य।

महाराजा अग्रसेन जयंती के उपलक्ष में अजमेर में 21 सितम्बर से 1 अक्टूबर तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जयंती महोत्सव समिति के प्रतिनिधि अशोक पंसारी और डॉ. विष्णु चौधरी ने 20 सितम्बर को बताया कि कार्यक्रमों की शुरुआत 21 सितम्बर को क्रिकेट लीग प्रतियोगिता के साथ होगी। 24 सितम्बर को सुबह 8 बजे 1111 वाहनों की रैली सीताराम बाजार से आरंभ होकर पड़ाव, क्लॉक टावर, गांधी भवन, नया बाजार, आगरा गेट होते हुए महाराज अग्रसेन पब्लिक स्कूल पर समाप्त होगी। इसी दिन सुबह 9 बजे स्कूल परिसर में ही ध्वजा रोहण होगा। 24 सितम्बर को ही रात 8 बजे नया बाजार चौपड़ पर भजन संध्या का आयोजन होगा, जिसमें कोलकाता के जयशंकर चौधरी, जयपुर के गिरिराज, सुरभि चतुर्वेदी तथा निजाम एंड पार्टी द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी। 25 सितम्बर को सायं साढ़े छह बजे अग्रसेन स्कूल में मेले का आयोजन किया गया है। 26 सितम्बर को स्कूल परिसर में ही आयोजित कवि सम्मेलन में हास्य कवि अरुण जेमनी, शृंगार रस की कवियित्री पूनम वर्मा, उदयपुर के कवि आजात शत्रु, बलवंत बल्लू, विनीत चौहान आदि कविता पाठ करेंगे। 27 सितम्बर को दोपहर ढाई बजे महिला खेलकूद प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया है। इसी दिन सायं साढ़े सात बजे डांडिया के आयोजन होंगे। 28 सितम्बर को स्कूल परिसर में सुबह 9 बजे से रक्तदान शिविर रखा गया है। इसी दिन शतरंज प्रतियोगिता रखी गई है। 29 सितम्बर को दोपहर तीन बजे केसरगंज स्थित सेंट जोंस स्कूल के सामने से महाराज अग्रसेन की शोभायात्रा निकाली जाएगी। इस शोभायात्रा का समापन अग्रसेन नगर में होगा। 30 सितम्बर को सांस्कृति संध्या का आयोजन रखा गया है। 1 सितम्बर को सामूहिक प्रसादी के साथ समारोह का समापन होगा। सामूहिक प्रसादी महाराजा अग्रसेन पब्लिक स्कूल में रखी गई। विभिन्न कार्यक्रमों को सफल बनाने में सतीश बंसल, शैलेन्द्र अग्रवाल, मनीष गोयल, दिनेश परनामी, रामन्द्र मित्तल, प्रदीप बंसल, शंकरलाल बंसल, प्रेमनारायण गर्ग, रमेश चन्द्र अग्रवाल, गोविंद गर्ग आदि की महत्वपूर्ण भूमिका है। इस संबंध में और अधिक जानकारी मोबाइल नम्बर 9414003159 पर अशोक पंसारी तथा 9414004759 पर डॉ. विष्णु चौधरी से ली जा सकती है। 
एस.पी.मित्तल


राष्ट्रीय स्तर की खिलाड़ी ने लगाई गुहार

गाजियाबाद। शास्त्री नगर स्‍थित रजापुर में रहने वाली मुस्कान तोमर की पहचान एक खिलाड़ी के रूप में है। नेशनल लेवल की यह खिलाड़ी आज मजबूर है प्रशासन की उदासीनता के चलते। क्योंकि पिछले काफी समय से मुस्कान प्रदेश व देश का नाम रोशन कर चुकी है। लेकिन उसके बावजूद भी प्रशासन उसके खेल भावना को देखने को तैयार नहीं है। दरअसल मुस्कान की आर्थिक स्थिति इतनी मजबूत नहीं है की वो देश के अलग अलग जगह जाकर खेल खेल सके। मुस्कान के मेडल आपको इतना तो यकीन दिला देंगे कि मुस्कान कहीं ना कहीं अच्छी खिलाड़ी है, और मुश्कान की मेहनत की वजह से आज मुस्कान के पास मैडल ही हैं। लेकिन मुस्कान ने प्रशासन से गुहार लगाई है कि उसकी आर्थिक स्थिति को देखते हुए उसकी मदद की जाए,साथ है। गाजियाबाद की महापौर से भी आग्रह किया है। उसकी मदद की जाए,मुश्कान ने डिस्क थ्रो प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए चेन्नई जाना है। लेकिन माता व पिता के पास इतने पैसे नहीं हैं की मुस्कान को चेन्नई में हो रही खेल प्रतियोगिता में भाग दिला सके अब देखने वाली बात होगी। प्रदेश सरकार जहां एक तरफ बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ का नारा देती है। क्या इस बेटी को खेल की भावना के चलते इसकी आर्थिक मदद कर पाएगी।


दिपक कुमार


बाबर ने मंदिर तोड़ा नहीं बल्कि बनवाया

वक्फ बोर्ड के वकील ने कहा- बाबर ने मंदिर तोड़ा नहीं बल्कि बनवाया


नई दिल्‍ली। अयोध्या जमीन विवाद मामले में सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील राजीव धवन अपना पक्ष रख रहे हैं। धवन ने सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ के सामने 28वें दिन की सुनवाई के दौरान बाबरनामा का हवाला देते हुए कहा कि दरअसल वहां मंदिर मुगल बादशाह बाबर ने बनवाया था। हिन्दू पक्षकार गजेटियर का हवाला दे रहे हैं लेकिन गजेटियर कई अलग-अलग समय पर अलग नजरिये से जारी हुए थे। ऐसे में नहीं कहा जा सकता कि बाबर ने मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाई।सुनवाई के दौरान जस्टिस बोबड़े ने पूछा कि कई पुरानी मस्जिदों में संस्कृत में भी कुछ लिखा हुआ मिला है, ये क्यों है। इस पर राजीव धवन ने कहा कि क्योंकि बनाने वाले मजदूर कारीगर हिंदू होते थे तो वे अपने तरीके से इमारत बनाते थे। काम पूरा होने के बाद यादगार के तौर पर कुछ लेख भी अंकित करते थे। मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने गुरुवार को अपनी दलीलों के जरिए यह साबित करने की कोशिश की कि विवादित स्थल पर मस्जिद थी।


उन्होंने निर्मोही अखाड़े के महंत रघुवर दास की ओर से 1885 में दाखिल वाद का हवाला देते हुए कहा कि वह स्थल के बाहरी परिसर में राम चबूतरा मन्दिर का निर्माण कराने जा रहे थे। अयोध्या राम मंदिर विवाद पर सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित संवैधानिक पीठ पिछले 5 अगस्त से लगातार सुनवाई कर रही है। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट की चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच ने बुधवार को सभी पक्षकारों से अपनी दलीलें पूरी करने के बारे में पूछा।


हजारों किमी से बुद्ध की प्रतिमा का अनावरण

प्रधान सेवक प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने दिल्ली से ही 3600 किमी दूर किया भगवान बुद्ध की प्रतिमा का अनावरण


नई दिल्ली। मंगोलिया के राष्ट्रपति खाल्तमा बातुलगा द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक सहित कई मुद्दों पर चर्चा करने के लिए गुरुवार को भारत की पांच दिवसीय यात्रा पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने आज पीएम मोदी से उनके आवास पर मुलाकात की। इस दौरान दोनों नेताओं ने संयुक्त रूप से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंगोलिया के गंडान मठ में भगवान बुद्ध की प्रतिमा का अनावरण किया है।इससे पहले आज उनका राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत किया गया। इसके बाद उन्होंने राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धांजलि अर्पित की।उन्होंने कहा 'मैं भारत की राजकीय यात्रा पर आकर बहुत खुश हूं। भारत के साथ हमारे सदियों पुराने आध्यात्मिक और सांस्कृतिक संबंध हैं।


1992 में मंगोलिया ने पहला लोकतांत्रिक संविधान अपनाया और 1994 में मंगोलिया के पहले निर्वाचित राष्ट्रपति ने भारत की पहली राजकीय यात्रा की। इसके बाद साल 2009 में मंगोलिया के राष्ट्रपति भारत यात्रा पर आए। उसके दस साल बाद मैं भारत की राजकीय यात्रा पर हूं। इससे पहले, मई 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक आधिकारिक यात्रा पर आए थे।'


यौन शोषण आरोपी चिन्मयानंद गिरफ्तार

यौन शोषण के आरोपी स्वामी चिन्मयानंद गिरफ्तार


शाहजहांपुर। पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद को एसआईटी और यूपी पुलिस ने शाहजहांपुर से गिरफ्तार कर लिया है। एसआईटी की टीम स्वामी चिन्मयानन्द को सुबह ट्रामा सेंटर ले गई थी। ट्रामा सेंटर में स्वामी को दिखाने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। उन्हें कोर्ट में पेश किया गया। स्थानीय अदालत ने स्वामी चिन्मानंद को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर एसआईटी पूरे मामले की जांच कर रही है।


इससे पहले, गुरुवार देर रात स्वामी चिन्मयानंद की देर रात एक बार फिर से तबीयत बिगड़ गई। इसपर स्वामी को बाहर ले जाने के लिए एंबुलेंस बुलाई गई, वहीं, जानकारी मिलते ही एसआईटी टीम आश्रम पहुंच गई और कागजात मांगे, लेकिन कागजात न दिखा पाने पर एसआईटी ने उन्हें बाहर जाने से रोक दिया। गौरतलब है कि स्वामी चिन्मयानंद की तबीयत गुरुवार दोपहर तक ठीक नहीं रही। डॉक्टरों ने हार्ट में दिक्कत के कारण केजीएमसी लखनऊ ले जाने की सलाह दी लेकिन शाम पौने पांच उन्होंने खुद की हालत में सुधार बताया और आयुर्वेदिक इलाज की बात कहकर अपने सेवादार के साथ आश्रम लौट आए।


श्रीराम कॉलेज ऑफ फार्मेसी मे ओरिएंटेशन

मुजफ्फरनगर। श्रीराम काॅलेज ऑफ फाॅर्मेसी में प्रथम ओरिएंटेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें नवागंतुक विद्यार्थियों को कोर्स के संबंध में प्राथमिक जानकारी देने के साथ-साथ इस क्षेत्र में संभावित असीम संभवनाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्रीराम ग्रुप ऑफ काॅलेज के चेयरमैन डा. एससी कुलश्रेष्ठ रहे।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि, श्रीराम ग्रुप ऑफ काॅलेज के चेयरमैन डा. एससी कुलश्रेष्ठ ने फार्मेसी के विद्यार्थियों को बताया कि इस पाठ्यक्रम को पूर्ण करने के बाद सरकारी और गैर सरकारी संस्थानों में जॉब की अपार सम्भावनाये होती है बस आपमें टैलेंट होना चाहिए। वैसे सबसे सामान्यतः जॉब फार्मेसिस्ट की होती है। कोर्स पूरा करके और लाइसेंस मिलने के बाद सरकारी अस्पतालों, प्राइवेट अस्पतालों और प्राइवेट मेडिकल क्लिनिक में फार्मेसिस्ट के तौर पर काम कर सकते है। अगर कोई फार्मा-ग्रेजुएट आर्थिक रूप से सम्पन हो तो वो खुद की मैडिकल फर्म भी स्थापित कर सकता है। इसके अतिरिक्त प्राइवेट फार्मा कम्पनियों में भी कैरियर बनाने की अपार संभावनाऐं विद्यमान है।


डाॅ. कुलश्रेष्ठ ने विद्यार्थियों को प्रेरित करते हुए कहा कि वर्तमान युग प्रतिस्पद्र्धा का युग है, ऐसे में जब तक ध्यान पूर्ण रूप से केन्द्रित नहीं होगा तब तक लक्ष्य की प्राप्ति नहीं की जा सकती। सफलता प्राप्ति के लिए समय प्रबन्धन करना अति-आवश्यक है। समय प्रबन्धन से ही बडे से बडे लक्ष्य को आसानी से प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि अगर सकारात्मक सोच के साथ कार्य किया जाए तो उसका परिणाम भी सकारात्मक ही मिलता है। सिर्फ जीवन में यह जज्बा बनाये रखने की जरूरत है कि असफलताओं से निराश न हो, बल्कि असफलताऐं मनुष्य को सफलता के मार्ग तक ले जाने में सहायक है।इस अवसर पर पर श्रीराम काॅलेज ऑफ फार्मेसी के निदेशक डा. गिरेन्द्र गौतम ने कहा कि हमारी प्राथमिकता विद्यार्थियों को किताबी शिक्षा देने के साथ-साथ प्रयोगात्मक शिक्षा भी देना है। जिससे उन्हें अपने क्षेत्र से जुड़ी हर नवीन जानकारी का गहनता से ज्ञान प्राप्त हो सके और यही ज्ञान उनके व्यक्तित्व का भी विकास करता है।कार्यक्रम को सफल बनाने में श्रीराम काॅलेज ऑफ फार्मेसी की प्रवक्ता छवि गुप्ता, अवनिका त्यागी, शफक्कत ज़ैदी, टिंकू, सोनू कुमार और रोहित आदि का महत्वपूर्ण योगदान रहा।


गाजियाबाद,मैक्स हेल्थ केयर ने रचा इतिहास

अविनाश श्रीवास्तव


गाजियाबाद। 37 वर्षीय रीति ने एक बहुत ही साहसिक कदम उठाया जिसने उनके जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया है। स्तन और ओवरी कैंसर से बचने के लिए एक बेहद साहसिक कदम उठाया और स्वेच्छा से बाइलैटरल मास्टेक्टॉमी कराई और अपने अंडाशय को निकलवा लिया।
इस असामान्य स्थिति के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए और इस तथ्य को उजागर करने के लिए मैक्स हेल्थकेयर, वैशाली ने आज एक संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी। इसमें रीति के मामले के बारे में भी बताया गया।
उनके परिवार में बीआरसीए 1 (स्तन कैंसर से जुड़े जीन) के आनुवंशिक परिवर्तन के मामले चल रहे हैं। उनकी बड़ी बहन को हाल ही में कनाडा में स्तन कैंसर का पता चला था और उनकी मां को दो बार स्तन कैंसर का सामना करना पड़ा। पहली बार उन्हें 1997 में एक स्तन में और उसके बाद 2007 में दूसरे स्तन में कैंसर का पता चला था।
इस तरह की पृष्ठभूमि होने के कारण, रीति को यह पता करने के लिए जीन परीक्षण कराना पड़ा कि क्या वह भी स्तन कैंसर से जुड़े जीन में उत्परिवर्तन का वहन कर रही हैं। मैक्स सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल वैशाली के   सर्जिकल ओन्कोलॉजी की निदेशक सर्जन डॉ. गीता कद्यप्रथ और जेनेटिक्स कंसल्टेंट डॉ. अमित वर्मा के परामर्श के बाद, उन्होंने आनुवांशिक परीक्षण कराया और जैसी उम्मीद की गई थी वैसा ही पाया गया। इस परीक्षण में उनमें बीआरसीए 1 उत्परिवर्तन सकारात्मक पाया गया। इसके परिणाम से इस बात की पुष्टि हो गयी कि उनमें अपने जीवन काल में स्तन कैंसर होने की लगभग 80 प्रतिशत और ओवरी कैंसर होने की 50-60 प्रतिशत संभावना थी।
डॉ. गीता कद्यप्रथ ने कहा, कि “स्तन कैंसर के केवल 10 प्रतिशत मामले आनुवांशिक उत्परिवर्तन के कारण होते हैं। हालांकि यह दुर्लभ है, हम उच्च जोखिम वाले पारिवारिक कैंसर वाले काफी रोगियों को देख रहे हैं। जीन के उत्परिवर्तन के डर से कई लोग जांच कराने से कतराते हैं। अभी भी कैंसर को लेकर समाज में डर और मिथ्या कायम है और इस कारण कई लोग अपनी उत्परिवर्तन स्थिति के बारे में जानना नहीं चाहते हैं। उत्परिवर्तन वाले लोगों में कैंसर को होने से रोकने के लिए समय पर उचित कार्रवाई बहुत जरूरी है। इस बारे में सभी लोगों को पता है कि कैंसर होने के बाद की जिंदगी काफी कठिन हो सकती है और इसके अनिश्चित परिणाम हो सकते हैं। सौभाग्य से, इस मामले में, बड़ी बहन ने अपनी छोटी बहन को बीआरएसी 1 जीन में उत्परिवर्तन के लिए समय पर जाँच करने के लिए प्रेरित किया। इस बीमारी को रोकने के लिए लोगों को जागरूक होना और बीमारी को रोकने के लिए सभी संभव कदम उठाना महत्वपूर्ण है। जानकारी हमें सशक्त बनाती है। पूरी तरह से स्वस्थ जीवन जीने के अलावा कुछ भी अधिक महत्वपूर्ण नहीं है।”
वैशाली स्थित मैक्स सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में ऑन्कोलॉजी की एसोसिएट डायरेक्टर, डॉक्टर कनिका गुप्ता ने बताया कि, “जब बीआरसीए 1 जीन में बदलाव आते हैं तो इस केस में मरीज में स्तन कैंसर के विकास की संभावना 80 % ज्यादा होती है और ओवेरियन और फैलोपियन ट्यूब कैंसर के विकास की संभावना 50-60 % होती है। हालांकि, रिती की जांच से ओवेरियन सिस्ट का पता चला, जिसके कारण सर्जरी करना अनिवार्य हो गया था। केवल ओवरी को निकाल देने के बाद, ओवरी के कैंसर का जोखिम 80 % तक कम हो गया और स्तन कैंसर का जोखिम 56% तक कम हो गया। प्रोफाइलेक्टिक बाइलेटरल मास्टेक्टॉमी की मदद से हम कैंसर के जोखिम को 95% तक कम करने में सफल रहे।“


एक्सपायर पतंजलि दूध की बदली तारीख

रायपुर। प्रदेश की राजधानी रायपुर में पतंजलि दूध के एक्सपायर्ड पैकटों पर नई तारीख लिखने का गोरखधंधा का खुलासा हुआ है। फूड एंड ड्रग विभाग की टीम ने एक दुकान पर छापा मारकर पतंजलि ब्रांड दूध के एक्सपायर्ड हो चुके 20 हजार पैकेट को जब्त किया है। छापामारी की सूचना मिलते ही दुकान संचालक फरार हो गया। शुक्रवार को रायपुर पहुंची पतंजलि की टीम भी संचालक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएगी।


छत्तीसगढ़ में मिलावटी दूध कई बार पकड़ा गया है, लेकिन यह पहला मामला है कि एक्सपायरी डेट मिटाकर नई तारीख लिखने का यह पहला मामला है।  जानकारी के अनुसार पैकेट में जून तक की एक्सपायरी डेट दर्ज है। ड्रग कंट्रोलर टीम को गुरुवार को शिकायत मिली कि बोरियाकला के शदाणी मार्केट की एक दुकान पर इस तरह की धोखाधड़ी चल रही है। इसके बाद टीम ने दुकान  छापामारी की गई। जब टीम यहां पुहंची उस समय दुकान नंबर एफ-57 अंदर से बंद था। कर्मचारियों ने काफी देर बाद दुकान खोली।


टीम भीतर पहुंचे तो दूध के हजारों पैकेट बिखरे हुए थे। मौके पर दुकान के कर्मचारियों को दूध पैकेट पर तारीख और नंबर मिटाकर नया लिखते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया। टीम ने कार्रवाई करते हुए तब एक्सपायर्ड दूध जब्त कर दुकान सील कर दी गई। फूड एंड ड्रग विभाग की टीम मौके पर पहुंची तो पता चला कि दुकान में काम कर रहे कर्मचारी दूध के एक्सपायर्ड हो चुके पैकेट पर लिखी तारीख को थिनर से मिटाते थे।


शेयर बाजार में इतिहास की बड़ी तेजी

नई दिल्ली। सुस्‍त पड़ी अर्थव्‍यवस्‍था को बूस्‍ट देने के लिए शुक्रवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक बार फिर मुखातिब हुईं। इस बार वित्त मंत्री ने कॉरपोरेट सेक्‍टर के लिए कई बड़े ऐलान किए। इसका शेयर बाजार ने जबरदस्‍त तरीके से स्‍वागत किया। सरकार के बूस्टर डोज की वजह से कारोबार के दौरान शेयर बाजार में इतिहास की सबसे बड़ी तेजी आई। कारोबार के दौरान एक वक्‍त सेंसेक्‍स में 2250 अंक से अधिक की बढ़त देखी गई। कारोबार के अंत में सेंसेक्‍स 1921 अंक उछलकर 38,014 के स्तर पर बंद हुआ है। वहीं, निफ्टी भी 569 अंक की तेजी के साथ 11,274 पर रहा।


इतिहास की सबसे बड़ी बढ़त


निर्मला सीतारमण की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के बाद शेयर बाजार ने जो रफ्तार पकड़ी, उसने एक नया रिकॉर्ड बना दिया। दरअसल, कारोबार के दौरान एक वक्‍त सेंसेक्‍स 2250 अंक से अधिक बढ़त के साथ कारोबार करता दिखा तो वहीं निफ्टी ने भी 650 अंकों से अधिक की बढ़त दर्ज कर ली। इससे पहले 18 मई, 2009 को सेंसेक्‍स में 2,110 अंक की तेजी आई थी। तब तत्कालीन यूपीए सरकार के एक बार फिर से सत्ता में वापस लौटने का जश्न मार्केट ने मनाया था।


बहरहाल, शेयर बाजार के इस उत्‍साह की वजह से कारोबार के दौरान निवेशकों को 7 लाख करोड़ रुपये से अधिक का मुनाफा हुआ। दरअसल, गुरुवार को बीएसई का मार्केट कैप 1,38,54,439.41 लाख करोड़ रुपये था जो शुक्रवार को बाजार बंद होने पर 1,45,37,378.01 लाख करोड़ पर पहुंच गया। इस लिहाज से 6.80 लाख करोड़ से अधिक का मुनाफा हुआ है। वहीं कारोबार के दौरान यह मुनाफा बढ़कर 7 लाख करोड़ से अधिक हो गया था।


भारतीय बॉक्सर अमित ने रचा इतिहास

नई दिल्ली। विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंचते ही भारतीय बॉक्सर अमित पंघाल ने इतिहास रच दिया। अमित इस प्रतिष्ठित चैंपियनशिप के खिताबी मुकाबले में पहुंचने वाले पहले भारतीय मुक्केबाज बन चुके हैं। 2018 में इंडोनेशिया के जकार्ता में हुए एशियन खेलों के स्वर्ण पदक विजेता पंघाल ने 52 किग्रा फ्लाईवेट कैटेगिरी के सेमीफाइनल में कजाकिस्तान के साकेन बिबोसिनोव को एक कांटे के मुकाबले में 3-2 से मात दी।


16 हत्‍या आरोपियों को किया गिरफ्तार

प्रयागराज। प्रतापगढ का बहुचर्चित राजेश सिंह हत्याकांड के मुख्य आरोपी 25 हजार के ईनामी  पवन मिश्रा को एसटीएफ ने मुठीगंज थाना क्षेत्र से किया गिरफ्तार।
11 दिसंबर 2016 को प्रतापगढ के बाघराय थाना क्षेत्र में राजेश सिंह की बम और गोली मारकर की गई थी हत्या।
राजेश सिंह हत्याकांड के 16 आरोपियो को पुलिस ने किया गिरफ्तार।इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ह्त्यारोपियों की गिरफ्तारी नही होने पर प्रमुख सचिव गृह,डीजीपी, एसपी प्रतापगढ ,एसएचओ बाघराय,और सीबीसीआईडी के डीजी पर लगाया था 50 हजार का जुर्माना। राजेश सिंह हत्याकांड के सभी आरोपी सलाखो के पीछे पहुंच गयेे ।पुलिस और एसटीएफ ने सभी 16 आरोपियों को किया गिरफ्तार।
रिपोर्ट-बृजेश केसरवानी


अतिक्रमण-पॉलिथीन हटाओ अभियान

प्रयागराज। नगर निगम प्रयागराज प्रवर्तन दल की टीम के द्वारा आज मनमोहन पार्क से कटरा तक अतिक्रमण हटाओ अभियान चलाया गया। टेथा जाॅन-एक खुल्दाबाद में पॉलिथीन हटाओ अभियान चलाया गया। प्रवर्तन दल प्रभारी लेफ्टिनेंट कर्नल आरबी सिंह के नेतृत्व में सहायक नगर आयुक्त ओम प्रकाश  कर-अधीक्षक मिथिलेश कुमार के द्वारा मिलकर यह अभियान चलाया गया। अभियान के दौरान अतिक्रमण हटाया गया और ₹21700 समन शुल्क वसूला गया।
 रिपोर्ट बृजेश केसरवानी


एकलव्य के वंशजों को नहीं मिला लाभ

सूरजपुर। छत्तीसगढ़ आदिवासी बाहुल्य प्रदेशों में गिना जाता है । यहां विभिन्न जातियों के लोग निवासरत हैं । इन्हीं मे से एक जन जाति हैं पंडो लोगों की । सरगुजा क्षेत्र को इनका मूल स्थान माना जाता है और यहीं से यह जनजाति प्रदेश के अन्य क्षेत्रों में घुम घुम कर अपना जीवन यापन करती थी । इनकी घुमंतु प्रवृति तथा शिकार पर ही जीने के कारण ये कहीं भी स्थाई तौर पर नहीं रह पाते थे ।
सरकार ने इस जनजाति को एक जगह स्थापित कर विकास की मुख्य धारा से जाड़ने की योजना बनाई जिसके लिए राज्य शासन द्वारा वर्ष 2000-03 में विशेष पिछड़ी जनजातियों के तुल्य मानते हुए, सूरजपुर जिले में पृथक अभिकरण गठित किया गया। इनका विस्तार सूरजपुर सरगुजा बलरामपुर में है जो इनका मूल निवास स्थान है । सरकार ने इन्हें एक जगह स्थापित कर इनके लिए स्कूल आंगनबाड़ी सड़क तथा बिजली की व्यवस्था की हो और इनकीे बसाहट एक गांव ओैर समाज के रूप में होने लगी । 
अपने मूल स्थान को छोड़ अन्य जगहों पर रुकने से तब कोई समस्या तो नहीं आई। पर अब कुछ समस्याओं से इन्हें रूबरू होना पड़ रहा। पूर्व में शिकार व जंगलों पर निर्भर यह जाति समुदाय, शिक्षा व आधुनिकता की ओर अग्रसर है। जहां कुछ समस्याएं इन्हें आगे बढ़ने से रोक रही।
मरवाही के बहु वनांचल व दूरस्थ ग्राम पंचायत सेमरदर्री में एक टोला है,बगैहटोला जहां पंडो समुदाय रहता है। इनका कहना है, ये कई पीढ़ियों से यहां रह रहे हैं। सरकार द्वारा इनके लिए स्कूल, पानी ,आंगनबाड़ी जैसी मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराई गई है। प्रधानमंत्री आवास योजना व शौचालय भी देखने को मिल जाता है।
इनके घरों में आज भी धनुष बाण रखे जाते हैं,यहां तक ये यह भी कहते हैं,हम धनुष बाण में कभी अपने अंगूठे का प्रयोग नहीं करते हम एकलव्य के वंशज हैं, और एकलव्य ने गुरु द्रोण को अपना अंगूठा गुरु दक्षिणा में दिया था।
यह लोग शिक्षित हो रहे हैं,पुरातन से आधुनिकता की ओर बढ़ने की हर एक कोशिश कर रहे हैं। यहां रहने वाले पंडो समुदाय की एक विकट समस्या यह है, कि उनके पास मिशल नहीं होने के कारण जाति प्रमाण पत्र नहीं बन पा रहा । जिसके कारण सरकार की कई व्यक्तिगत योजनाओं का लाभ इन्हें नहीं मिल पा रहा है । जाति प्रमाण पत्र नहीं होने से नौकरी तथा अन्य जरूरी कामों में अड़चन आने लगी है । युवाओं की इस परेशानी को देखते हुए पंडो जाति के बुजुर्गो को ये लगने लगा है कि एक जगह बस्ती बनाकर रहना उनका गलत फैसला तो नहीं था जिसके कारण सरकारी कागजों की कमी ने उनके बच्चों के भविष्य पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया है । लेकिन इन्हें अब भी उम्मीद है, कि जाति प्रमाण पत्र सरलीकरण होने के बाद इनके प्रमाण पत्र बनाने का मामला प्रशासन गंभीरता से लेगा और धनुष से शुरू हुआ सफर कलम तक पहुंचने को तैयार है ।
बगैहा के धनी पंडो कहते हैं। जाति प्रमाण पत्र के लिए पहले हम प्रयास कर चुके हैं, पर जमा होने के बाद नहीं बना। हमारे पास मिशल भी नहीं है। यहीं के घासीराम कहते हैं -हमारे पास मिसल नहीं इसलिए जाति नहीं बन पा रही दो तीन बार प्रयास की जा चुकी है।
सेमरी सरपंच प्रताप सिंह भानु कहते हैं,ये पहले इतना पढ़े-लिखे नहीं थे, अब पढ़ लिख रहे हैं, लेकिन जाति प्रमाण पत्र ना होने की वजह से सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं से वंचित हो जाते हैं।अनुविभागीय अधिकारी डिकेश पटेल कहते हैं -इस विशेष पिछड़ी जनजाति का जाति प्रमाण पत्र ग्राम सभा के माध्यम से बन जाता है। तहसीलदार को कहकर मामले में संज्ञान लेंगे।


70 वर्षीय पादरी ने मासूम बनाई शिकार

एर्नाकुलम। केरल में 70 वर्षीय एक पादरी पर तीन नाबालिग लड़कियों के साथ छेड़खानी का आरोप लगा है। पुलिस ने शुक्रवार को बताया कि यह घटना पिछले महीने की है, जह एर्नाकुलम के चेंदामंगलम में जब तीनों बच्चियां पादरी के चर्च स्थित दफ्तर में उनका आशीर्वाद लेने पहुंची थीं। सीरियन कैथलिक चर्च के पादरी जॉर्ज पदयट्टी केस दर्ज होने के बाद से ही फरार चल रहे हैं। वडक्केकरा पुलिस स्टेशन के अधिकारियों ने बताया कि आरोपी पादरी पर पॉक्सो ऐक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक यह घटना एक महीने पहले की है, जब 9 साल की तीनों बच्चियां चर्च में अपनी सेवाएं देने के बाद पादरी का आशीर्वाद लेने के लिए उनके दफ्तर में गई थीं।


साइरो-मालाबार चर्चा के एक सूत्र ने बताया कि पादरी को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है। इसके साथ ही उन्हें पुलिस की जांच में सहयोग करने का आदेश दिया गया है ताकि सच्चाई सामने आ सके।


पाक हिंदुओं पर अत्याचार का विरोध

नई दिल्‍ली। पाकिस्तान में हिंदू मेडिकल छात्रा की संदिग्ध मौत के बाद अब देश भर में पाकिस्तान में हिंदुओं के खिलाफ हो रही बर्बरता पर आवाज बुलंद की जा रही है। हाल ही में पाकिस्तान में एक हिंदू मेडिकल की छात्रा नम्रता चंदानी की हॉस्टल के कमरे में पलंग पर रस्सी से बंधी लाश मिली थी। नम्रता मूल रूप से मीरपुर जिले के घोटकी की रहने वाली थी, जिनका परिवार फिलहाल कराची में रहता है। नम्रता का मामला अकेला नहीं है। पाकिस्तान में लगातार हिंदू अल्पसंख्यकों पर हमले हो रहे हैं।


आजादी के बाद एक तरफ जहां भारत में मुस्लिम अल्पसंख्यकों की संख्या लगातार बढ़ रही है, वहीं पाकिस्तान में हिंदू अल्पसंख्यक 1% से भी कम रह गए हैं। इससे ही पाकिस्तान के इरादे साफ समझे जा सकते हैं। इससे पहले एक सिख लड़की का जबरन धर्मांतरण कराते हुए निकाह करा दिया गया। इन्हीं सब मुद्दों पर सर्व हिंदू समाज बिलासपुर द्वारा नेहरू चौक पर धरना प्रदर्शन करते हुए पाकिस्तान की कारगुजारीयों को उजागर किया गया। पाकिस्तान में सरकारी संरक्षण में हिंदू धर्म स्थलों की तोड़फोड़ और हिंदू बालिकाओं के अपहरण के विरोध में किए गए इससे धरने में पाकिस्तान को पापीस्तान बताया गया और पाक के नापाक हरकतों को यहां उजागर किया गया। हिंदू संगठनों के इस आंदोलन में आश्चर्यजनक रूप से कांग्रेसियों का साथ मिला और बिलासपुर विधायक शैलेश पांडे समेत अटल श्रीवास्तव, नरेंद्र बोलर जैसे बड़े कांग्रेसी नेता इसमें शामिल हुए और पाकिस्तान द्वारा किए जा रहे अत्याचार पर अपना रोष जाहिर किया। यहां वक्ताओं ने साफ किया कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक हिंदुओं की जिंदगी नरक बन चुकी है और भारत सरकार को अब शेष बचे हिंदू और सिख पाकिस्तानी नागरिकों को भारत वापस बुला लेना चाहिए और उन्हें बिना शर्त भारत की नागरिकता देनी चाहिए। इसी के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पाकिस्तान पर दबाव बनाने की बात कही गई ताकि पाकिस्तान अपने आतंकी और संकीर्ण जातिवादी सोच को अंजाम न दे पाए । यहाँ लोगों ने अंतिम युद्ध की बात भी कही जिससे पाकिस्तान का नामोनिशान दुनिया से मिटा देने के मंसूबे जाहिर किये गए। इन दिनों पाकिस्तान को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहा है , वैसे 1947 के बाद कभी भी भारत और पाकिस्तान के रिश्ते अच्छे नहीं रहे। हाल ही में कश्मीर से धारा 370 और पाकिस्तान की मान ना मान मैं तेरा मेहमान वाले रवैय्ये से तनाव और बढ़ा है। भारत में नरेंद्र मोदी की सरकार के आगे बुरी तरह पस्त पाकिस्तान अपने ही देश में मजबूर हिंदू नागरिकों पर अत्याचार कर अपनी कायरता का प्रदर्शन कर रहा है।


जैश-ए-मोहम्मद ने दी ब्लास्ट की धमकी

नई दिल्ली। मुंबई, चेन्नई और बेंगलुरु समेत हरियाणा के कई रेलवे स्टेशनों और मंदिरों के बाद पंजाब के भी चार रेलवे स्टेशनों को उड़ाने की धमकी मिली है। जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने अंबाला और फिरोजपुर डिवीजन के चार स्टेशनों पर विस्फोट करने की धमकी दी है, जिसके चलते फिरोजपुर और अंबाला डिवीजन के स्टेशनों पर चेकिंग अभियान शुरू किया गया है। फिरोजपुर रेलवे स्टेशन पर वीरवार शाम को जीआरपी और आरपीएफ ने चेकिंग अभियान चलाया। बताया जा रहा है कि आतंकी संगठन ने आठ अक्टूबर को बठिंडा, अमृतसर, पटियाला और फगवाड़ा स्टेशन को विस्फोट कर उड़ाने की धमकी दी है। जीआरपी थाना फिरोजपुर के प्रभारी सुखदेव सिंह ने कहा कि डिवीजन के स्टेशनों की चेकिंग चल रही है, वरिष्ठ अधिकारियों की तरफ से उन्हें चेकिंग करने के आदेश आए हैं। स्टेशनों और ट्रेनों की चेकिंग की जा रही है। वीरवार को फिरोजपुर शहर और छावनी रेलवे स्टेशन की चेकिंग की गई। ये अभियान लगातार जारी रहेगा। किसी आतंकी की तरफ से धमकी भरा पत्र आया है या नहीं इसके बारे में कोई जानकारी नहीं है, लेकिन वरिष्ठ अधिकारियों के सतर्क रहने के आदेश हैं। जैश-ए-मोहम्मद के एरिया कमांडर मैसुल अहमद के नाम से रोहतक रेलवे स्टेशन मास्टर को धमकी भरा पत्र मिला है।


वृंदावन में चार दिवसीय बांसुरी रंगोत्सव

वृंदावन। गंगा लोक कल्याण सेवा संस्थान के सांस्कृतिक प्रकल्प बांसुरी के द्वितीय रंगोत्सव का शुभारंभ नृत्य, संगीत व नाटक की त्रिवेणी के बीच हुआ। वृंदावन शोध संस्थान के ऑडिटोरियम में विभिन्न प्रदेशों से आए कलाकारों ने अपनी प्रस्तुतियों से समा बांध दिया।


आपको बता दें कि, कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती और बांकेबिहारी जी के चित्रपट पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलन के साथ आध्यात्मिक गुरु अनुराग कृष्ण पाठक, पार्षद राधा कृष्ण पाठक, मुख्य अतिथि कमल किशोर वार्ष्णेय, विशिष्ट अतिथि डॉक्टर सतीश चंद्र दीक्षित ने किया।शुरुआत में गोपी कृष्ण कला मंच बड़ौदा की कलाकार श्रेया सक्षम ने सरस्वती वंदना की। तक्षशिला नृत्य महाविद्यालय असम ने कृषि आधारित परंपरागत समूह नृत्य की प्रस्तुति से दर्शकों को मोह लिया। असम के दुआमका कृष्टि संघ ने हाल ही में राज्य के लोक नृत्य में शामिल सातरीय समूह नृत्य की मनोरम प्रस्तुति दी। बंजारा डांस एकेडमी ने राजस्थानी लोक समूह नृत्य प्रस्तुत कर कार्यक्रम को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया। कार्यक्रम में गुजरात, मणिपुर, झारखंड के कलाकारों ने एकल नृत्य की प्रस्तुति दी।


60 वर्षीय महिला के साथ बलात्कार

राजस्थान। गंगानगर जिले में मॉर्निंग वॉक के लिए निकली 60 वर्षीय महिला के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने बाद उसक असफ़लत हत्या का प्रयास  करने वाले आरोपी को पुलिस ने धर दबोचा है। आश्चर्य की बात यह है कि जो आरोपी पकडे गए है,वो महिला के पोते की उम्र का 17 वर्षीय नाबालिग निकला है।


जानकरी के अनुसार एसपी हेमंत शर्मा ने छानबीन की कमान संभाली और 30 घंटे बाद यह नाबालिग आरोपी पकड़ा गया। दरअसल, आरोपी पीड़िता को मरा हुआ समझकर वह वहां से भाग गया था। उसने पुलिस को बताया कि वह रोजाना उस महिला को मॉर्निंग वॉक करते हुए देखता था और उसके बाद ही उसके मन में इस तरह का गंदा ख्याल आया। उसने अकेली पाकर महिला के साथ बलात्कार करने के बाद वारदात को छुपाने के लिए हत्या का प्रयास किया था और पत्थर से सिर कुचलने की कोशिश की थी।


क्रूरता की सारी हदें पार करने वाली इस घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी अपने घर पर आकर सो गया था। पुलिस पूछताछ में पता चला है कि मोबाइल पर गंदे-गंदे वीडियो देखकर उसके मन में यह गंदे ख्याल आए थे और वह आधी रात से ही महिला के मॉर्निंग वॉक पर आने का इंतजार कर रहा था। इसमें बाद जैसे ही महिला मॉर्निंग वॉक के लिए आई आरोपी ने उसे साथ दुष्कर्म किया और हत्या करने का प्रयास किया। फिर आरोपी महिला को मरा समझकर वहां से फरार हो गया। वहीं, आस-पास के लोग जब सुबह में निकले तो घर से थोड़ी ही दूर पर महिला लहूलुहान हालत में मिली, जिन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है।   


आतंक विरोधी अभियान में हिस्सा लेंगे

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का अगला विदेशी दौरा अमेरिका का है और वे इस दौरान ह्यूस्टन रैली और संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करने के अलावा आतंकवाद विरोधी अभियान के साथ बड़े निवेश से जुड़े कार्यक्रमों में भी हिस्सा ले सकते हैं। जानकारी मिली है कि मोदी 23 सितंबर को यूएन की आतंकवाद विरोधी मीटिंग में फ्रांस, जॉर्डन और न्यूजीलैंड के नेताओं के साथ शामिल हो सकते हैं। वह ब्लूमबर्ग बिजनेस मीट को भी संबोधित करेंगे। प्रधानमंत्री इसमें भारत में कारोबारी सुगमता में सुधार का जिक्र कर सकते हैं। इस तरह की भी अटकलें हैं कि मोदी अलग से अमेरिकी कंपनियों के चीफ एग्जिक्यूटिव्स के साथ मुलाकात करेंगे। इसमें वह अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिए उनसे निवेश बढ़ाने की अपील करेंगे। आतंकवाद विरोधी बैठक में ग्लोबल टेक्नॉलजी दिग्गज भी शामिल होंगे। सभी सरकारें ऑनलाइन आतंकवाद को फैलने से रोकना चाहती हैं। यह मीटिंग मार्च में क्राइस्टचर्च आतंकी हमले और फ्रांस के आतंकवाद से लड़ने के लिए उठाए गए उपायों की पृष्ठभूमि में हो रही है। फ्रांस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर बढ़ती नफरत की रोकथाम के उपाय भी कर रहा है। इस बैठक में मोदी सीमा पार आतंकवाद और आतंकी फंडिंग रोकने जैसे मसलों को रेखांकित कर सकते हैं।
मोदी और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रां 22 अगस्त को समिट के दौरान सोशल मीडिया पर आतंकवाद को रोकने के लिए एक रोडमैप पर सहमत हुए थे। जॉर्डन भी आतंकवाद और कट्टरता विरोधी अभियान में भारत का महत्वपूर्ण सहयोगी है। प्रधानमंत्री 25 सितंबर को तीसरे ब्लूमबर्ग ग्लोबल बिजनेस फोरम को संबोधित करेंगे। इसमें राजनीति और कारोबारी क्षेत्र की जानी मानी शख्सियत मौजूद रहेंगी। इसके बाद वह उद्यमी और जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ता मिशेल ब्लूमबर्ग से बातचीत करेंगे। आयोजकों के मुताबिक, इस फोरम की थीम 'रिस्टोरिंग ग्लोबल स्टेबिलिटी' है। इसमें दुनिया की खुशहाली के लिए सरकारों और कारोबारियों को आर्थिक और पर्यावरण से जुड़ी अस्थिरता की चुनौतियों से निपटने के लिए एकजुट किया जाएगा। इसमें पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन, यूरोपीय सेंट्रल बैंक की अगली प्रेसिडेंट और इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड की पूर्व प्रमुख क्रिस्टीन लगार्ड, न्यूजीलैंड के प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डेन, बैंक ऑफ इंग्लैंड के गवर्नर मार्क कर्नी, वॉल्ट डिज्नी के सीईओ बॉब इगर, गोल्डमैन सैक्स के डेविड सोलोमन, जेपी मॉर्गन चेज के जेमी डाइमन, सिटी बैंक के माइकल कॉर्बेट, क्रेडिट सुइस के टिडजेन थियम और उबर के दारा खुसरोशाही जैसे गणमान्य लोग भी हिस्सा लेंगे।


एलआईसी का पैसा,घाटा कंपनियों में लगा

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने शुक्रवार को एक मीडिया रिपोर्ट का हवाला देते हुए दावा किया कि नरेंद्र मोदी सरकार भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) का पैसा घाटे वाली कंपनियों में लगाकर देश के आम लोगों के भरोसे को चकनाचूर कर रही है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'भारत में एलआईसी भरोसे का दूसरा नाम है। आम लोग अपनी मेहनत की कमाई भविष्य की सुरक्षा के लिए एलआईसी में लगाते हैं, लेकिन भाजपा सरकार उनके भरोसे को चकनाचूर करते हुए एलआईसी का पैसा घाटे वाली कम्पनियों में लगा रही है। ये कैसी नीति है जो केवल नुकसान नीति बन गई है?' प्रियंका ने जिस मीडिया रिपोर्ट का हवाला दिया उसके मुताबिक शेयर बाजार में बिकवाली का असर कई कंपनियों पर भी पड़ रहा है और बीते ढाई महीने में एलआईसी को शेयर बाजार में निवेश से करीब 57,000 करोड़ रुपये की चपत लग चुकी है। दरअसल, एलआईसी ने जिन कंपनियों में निवेश किया था, उन कंपनियों की बाजार पूंजी में काफी गिरावट दर्ज की गई है। वैसे यह पहली बार नहीं है जब प्रियंका ने किसी रिपोर्ट के हवाले से सरकार पर निशाना साधा है। इससे पहले भी कई मौकों पर वह सरकार को आड़े हाथ लेती रही हैं। गुरुवार को उन्होंने एक रिपोर्ट के हवाला देते हुए ट्वीट किया, 'भारतीय लोग अपना पैसा देश में रखना नहीं चाहते, व्यवसायों में निवेश नहीं करना चाहते। बाहर से निवेश आ नहीं रहा। भाजपा सरकार की ये कौन सी आर्थिक नीतियां हैं जिस पर से सबका भरोसा उठ चुका है?' गांधी ने जिस मीडिया रिपोर्ट का हवाला दिया था उसके अनुसार इस साल जुलाई के महीने में भारतीयों ने उदारीकृत प्रेषण योजना (लिबरलाइज्ड रेमिटेंस स्कीम एलआरएस) के तहत 1.69 बिलियन डॉलर रुपये विदेश भेजे हैं। यह विदेश भेजे जाने वाली अब तक की सबसे ज्यादा राशि है। आरबीआई द्वारा प्रदान की गई इस सुविधा के तहत विदेशों में पढ़ाई करने वाले भारतीयों, ईलाज, रिश्तेदारों, आप्रवासियों को पैसे भेजे जा सकते हैं।


सम्मान के साथ धौनी का समय खत्म

नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और स्टार क्रिकेटर महेंद्र सिंह धौनी को कब संन्यास लेना चाहिए, इसको लेकर तमाम दिग्गज क्रिकेटर अपनी राय रख चुके हैं। इस बीच टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने भी इस मुद्दे पर अपनी बात रखी है। गावस्कर का मानना है कि धौनी का समय आ चुका है और अब भारतीय टीम को उनसे आगे बढ़कर देखना चाहिए।


दिए इंटरव्यू में गावस्कर ने कहा, 'पूरे सम्मान के साथ धौनी का समय खत्म हो चुका है। अब समय आ गया है। भारत को धौनी से आगे बढ़कर देखना चाहिए। मुझे लगता है कि वो खुद संन्यास ले लेंगे इससे पहले कि उन पर इसका दबाव डाला जाए।' धौनी टेस्ट क्रिकेट से 2014 के अंत में संन्यास ले चुके हैं और उसके बाद से वनडे और टी20 क्रिकेट खेल रहे हैं। आईसीसी विश्व कप 2019 सेमीफाइनल के बाद से उन्होंने कोई मैच नहीं खेला है। वेस्टइंडीज दौरे पर वो नहीं गए थे। इंडियन आर्मी के साथ ट्रेनिंग करने के लिए धौनी ने क्रिकेट से ब्रेक लिया था।


कंगना का साडी मे हॉट एंड सेक्सी लुक

मुबंई। कंगना रनौत अपने ग्लैमरस अंदाज के लिए जानी जाती हैं। इसी के साथ वह अपने फैशन के लिए भी खास पहचान रखती हैं। इस बार जब वह बैंकॉक में एक अवॉर्ड शो का हिस्सा बनने पहुंची तो वहां के लिए उन्होंने जो लुक चुना वह ट्रडिशनल तो था लेकिन उसका जो स्टाइल था वह उन्हें बेहद हॉट ऐंड सेक्सी लुक दे रहा था।


कंगना ने तरुण तहलानी की डिजाइन की हुई गोल्डन शिमरी साड़ी पहनी थी। इसे उन्होंने कॉर्सेट स्टाइल के स्वीटहार्ट नेकलाइन ब्लैक ब्लाउज के साथ पहना था। कंगना के बालों को इस तरह स्टाइल किया गया था कि उनकी नेक और शोल्डर हाइलाइट हो रहे थे। गोल्डन साड़ी के साथ सेक्सी ब्लाउज का कॉम्बिनेशन कंगना को सुपर हॉट लुक दे रहा था। साड़ी का रंग और स्वीटहार्ट नेक वाला ब्लैक लेस ब्लाज विद गोल्डन बोर्डर उनके स्किन पर परफेक्ट लग रहा था। वैसे बता दें कि कंगना बैंकॉक में मिलेनियम ब्रिल्यन्स अवॉर्ड 2019 में बतौर चीफ गेस्ट बनकर पहुंची थीं। उनके इस शानदार लुक के फोटोज को टीम कंगना ने इंस्टाग्राम पर शेयर किया है।
वर्क फ्रंट की बात करें तो कंगना रनौत फिल्म पंगा और जयललिता पर बन रही बायॉपिक फिल्म में नजर आएंगी। पंगा में उनके साथ रिचा चड्ढा स्क्रिन शेयर करेंगी। यह मूवी 10 जनवरी 2020 को रिलीज होगी। इसके साथ ही वह फिल्म धाकड़ में भी लीड रोल निभाती दिखेंगी।


रावण का अभिनय करेंगे प्रभास

मुबंई। डायरेक्टर नीतेश तिवारी की हालिया रिलीज फिल्म छिछोरे बॉक्स ऑफिस पर अच्छा प्रदर्शन कर रही है। हाल ही में उन्होंने अनाउंसमेंट किया था कि उनकी अगली फिल्म रामायण होगी।
हालांकि, फिल्म की कास्टिंग को लेकर उन्होंने कुछ भी बताने से इनकार कर दिया था। जब उनसे पूछा गया कि क्या रितिक रोशन और दीपिका पादुकोण इस प्रॉजेक्ट का हिस्सा हैं तो डायरेक्टर ने कहा, हम अब भी कॉन्सेप्ट लेवल पर हैं। हमने कास्टिंग के बारे में सोचा भी नहीं है। अब एक लेटेस्ट रिपोर्ट की मानें तो रितिक और दीपिका फिल्म कर रहे हैं और वे राम और सीता के रोल में नजर आएंगे। सूत्र का कहना है कि फिल्म का बजट करीब 600 करोड़ रुपये है और इस तरह यह भारत की अब तक की सबसे महंगी फिल्म होगी।
यही नहीं, सूत्र के मुताबिक, तेलुगू सुपरस्टार प्रभास को रावण के रोल के लिए अप्रोच किया गया है क्योंकि मेकर्स को लगता है कि वह कैरक्टर को और ज्यादा मजबूत कर सकते हैं। मेकर्स प्रभास और उनकी टीम से इस बारे में बात कर रहे हैं, डील का लॉक होना अभी बाकी है।


वाशिंगटन की सड़कों पर गोलीबारी,कई मौत

वाशिंगटन। अमेरिका के वाशिंगटन की सड़कों पर गोलीबारी हुई। स्थानीय मीडिया के अनुसार बताया जा रहा है कि घटना में कई लोगों की मौत हो गई है। इस स्थान की व्हाइट हाउस से दूरी केवल तीन किलोमीटर है। स्थानीय मीडिया के अनुसार वाशिंगटन की गलियों में गोलियों की आवाज सुनी गई। इस गोलीबारी में कई लोगों को गोली लगी है।


पुलिस के अनुसार घटना में छह लोगों को गोली लगी है। घटना गुरुवार रात को 10 बजे घटित हुई। पीड़ितों की हालत के बारे में फिलहाल कोई जानकारी नहीं है। घायलों को घटनास्थल से एंबुलेंस में ले जाया गया है। पुलिस ने बताया कि घटना में एक की मौत हो गई है वहीं पांच लोग घायल हो गए हैं। एनबीसी वॉशिंगटन ने पुलिस के हवाले से बताया कि गोलीबारी की घटना व्हाइट हाउस से करीब तीन किमी दूर स्थित कोलंबिया हाइट्स में हुई। घटना गुरुवार की रात दस बजकर छह मिनट पर हुई। यह क्षेत्र उत्तर पश्चिम वॉशिंगटन में है। इस खबर में बताया गया कि पुलिस को गोली चलाने की घटना की जानकारी मिली और इसमें घायल छह लोगों का भी पता चला। पुलिस ने बताया कि पांच घायलों को अस्पताल ले जाया गया जिनमें से कम से कम एक की हालत गंभीर है। रिपोर्ट में कहा गया कि आस-पास के लोगों से घटना की जानकारी ली जा रही है, सर्विलांस वीडियो भी तलाशा जा रहा है।


'हाउडी मोदी' से पहले मौसम की मार

ह्यूस्टन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने अमेरिका दौरे पर 50 हजार से अधिक भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करेंगे। टेक्सास राज्य के ह्यूस्टन शहर में होने वाले इस कार्यक्रम को हाउडी मोदी नाम दिया गया है, जिसका काफी क्रेज़ है। लेकिन कार्यक्रम से पहले ह्यूस्टन में मौसम की मार पड़ी है, बीते दो दिनों से यहां इतनी बारिश हुई है कि बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं। बाढ़ के कारण टेक्सास के कुछ हिस्सों में इमरजेंसी घोषित कर दी गई है।
खराब मौसम की वजह से ह्यूस्टन एयरपोर्ट को बंद कर दिया गया है। इसके अलावा लोगों को बाहर नहीं निकलने से कहा गया है। हाउडी बुश एयरपोर्ट के द्वारा जारी अलर्ट के अनुसार, एयरपोर्ट पर किसी फ्लाइट को आने नहीं दिया जा रहा है। साथ ही 21 सितंबर से एयरपोर्ट के शुरू होने के आसार हैं। ह्यूस्टून के काफी बड़े स्कूल भी भारी बारिश की वजह से बंद किए गए हैं, इसके बारे में लगातार ट्विटर पर अपडेट किया जा रहा है।


हालांकि, मौसम की मार का असर हाउडी मोदी के वॉलंटियर्स पर नहीं पड़ा है, वह लगातार एनआरजी स्टेडियम में कार्यक्रम में लगातार तैयारियों में जुटे हुए हैं। रविवार को होने वाले प्रोग्राम से पहले 1500 वॉलंटियर्स काम में लगे हुए हैं। तुलसी गबार्ड नहीं होंगी शामिल, वीडियो में बताया
डेमोक्रेट्स पार्टी की नेता और अमेरिकी राष्ट्रपति पद का चुनाव लड़ रहीं भारतीय-अमेरिकी मूल की तुलसी गबार्ड प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाउडी मोदी कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगी। हालांकि उन्होंने एक वीडियो जारी कर पीएम का स्वागत किया है और कार्यक्रम में शामिल ना होने पर खेद जताया है।
आपको बता दें कि 22 सितंबर यानी रविवार की रात (भारतीय समयानुसार) ह्यूस्टन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यहां संबोधन देना है। इस कार्यक्रम में अमेरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी शामिल होने वाले हैं, जहां वह कुछ बड़ा ऐलान भी कर सकते हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से भी डोनाल्ड ट्रंप के शामिल होने पर उन्हें शुक्रिया अदा किया गया है। डोनाल्ड ट्रंप के अलावा अमेरिका के कई सांसद, रिपब्लिकन, डेमोक्रेट्स पार्टी के कई नेता इस कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे। ह्यूस्टन में होने वाले इस कार्यक्रम के लिए 50 हजार से अधिक पास बुक हो चुके हैं, इसके अलावा अभी भी लगातार बुकिंग जारी है।


अकबर ने की राम-जानकी मंदिर में पूजा

कवर्धा। छत्तीसगढ़ सरकार के वन, एवं परिवहन,एवं आवास, एवं पर्यावरण मंत्री एवं कवर्धा विधायक मोहम्मद अकबर ने कवर्धा के प्रसिद्ध राम-जानकी मंदिर पहुँचकर विधिवत पूजा-अर्चना की। उन्होंने मंदिर में पूजा करते हुए प्रदेश की सुख-शांति एवं समृद्धि के लिए प्रार्थना भी की। इस अवसर पर मुकुंद माधव कश्यप, नरेन्द्र देवांगन, प्रमोद लुनिया, ऋषि शर्मा, कलीम खान सहित अन्य गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।


कारपोरेट कर में कटौती का ऐलान

गोवा। गोवा में होने वाली जीएसटी काउंसिल की बैठक से पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मीडिया से मुखातिब हुईं। इस दौरान उन्‍होंने कंपनी और कारोबारियों को राहत देते हुए कॉरपोरेट टैक्‍स घटाने का ऐलान किया। निर्मला सीतारमण ने बताया कि टैक्‍स घटाने का अध्‍यादेश पास हो चुका है।


(निवेश करने वाली कंपनियों पर 15 फीसदी का टैक्‍स लगेगा,मैन्‍युफैक्‍चरिंग कंपनियों के लिए भी टैक्‍स घटेगा,बिना किसी छूट के इनकम टैक्‍स 22 फीसदी होगा)


 निर्मला सीतारमण के इस ऐलान के बाद शेयर बाजार में बड़ी तेजी देखी गई। प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान सेंसेक्‍स 900 अंक मजबूत हुआ तो वहीं निफ्टी ने भी 250 अंकों की बढ़त दर्ज की। सेंसेक्‍स 37 हजार के पार कारोबार करता दिखा तो वहीं निफ्टी ने 11 हजार के स्‍तर को टच कर लिया।


भूमि-अधिग्रहण याचिका पर विचार से इनकार

अहमदाबाद। गुजरात हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति अनंत दवे और बीरेन वैष्णव की पीठ ने अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर विचार करने से इनकार कर दिया। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन द्वारा 508 किलोमीटर लंबी बुलेट ट्रेन परियोजना शुरू की जा रही है। केंद्रीय भूमि अधिग्रहण कानून का हवाला देकर अदालत ने सवाल उठाते हुए कहा कि यह परियोजना कई राज्यों से संबंधित है, लेकिन केंद्र ने भूमि अधिग्रहण करने के लिए गुजरात को कार्यकारी शक्ति की मंजूरी दी। गुजरात की ओर से सोशल इम्पैक्ट असेसमेंट (एसआईए) के बिना भूमि अधिग्रहण को अधिसूचित करने के मुद्दे पर भी अदालत ने स्पष्टता जाहिर की। अदालत ने कहा कि राज्य द्वारा परियोजना से पहले सामाजिक आकलन, पुनर्वास एवं पुनस्र्थापन जैसे केंद्रीय कानून के अनिवार्य प्रावधानों को छोड़ते हुए अधिसूचना जारी करना भी वैध है।


अदालत ने कहा कि जापान इंटरनेशनल कॉर्पोरेशन एजेंसी (जेआईसीए) के दिशानिर्देशों के तहत की गई एसआईए प्रक्रिया उचित और संतोषजनक है। किसानों के लिए मुआवजे के मुद्दे पर फैसला करते हुए अदालत ने कहा कि किसान अपनी मांगों को जायज ठहराने के लिए अन्य परियोजनाओं में अधिक मुआवजे के सबूत पेश कर सकते हैं। परियोजना से प्रभावित कुल 6900 किसानों में से लगभग 60 फीसदी ने भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया पर आपत्ति दर्ज की थी। किसानों के एक प्रतिनिधि ने कहा कि वे इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे सकते हैं। सूरत जिले के पांच किसानों ने 2018 में गुजरात के भूमि अधिग्रहण अधिसूचना के खिलाफ अदालत का रुख किया।


पाक को यूएनएचआरसी ने दिखाया ठेंगा

जिनेवा। जम्मू कश्मीर को लेकर पाकिस्तान लगातार अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की छवि करने की कोशिश में जुटा है। लेकिन उसे लगातार मुंह की खानी पड़ रही है। वहीं अब संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) के ज्यादातर सदस्य देशों ने भी पाकिस्तान का साथ देने से इंकार कर दिया है। तय समय सीमा के अंदर पाकिस्तान आवश्यक सदस्यों के समर्थन का पत्र यूएनएचआरसी को नहीं सौंप पाया। यूएनएचआरसी के ज्यादातर सदस्य देशों ने जम्मू कश्मीर पर संकल्प पेश करने के पाकिस्तान के प्रस्ताव का समर्थन करने से साफ मना कर दिया। इसके चलते पाकिस्तान की मंशा पर पानी फिर गया है।


संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत की प्रथम सचिव कुमम मिनी देवी ने कहा, 'जम्मू-कश्मीर भारत का संप्रभु और आंतरिक मामला है। पाकिस्तान गलत नीयत से सीमा की गलत व्याख्या करने की कोशिश कर रहा है। पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में अन्याय की सीमा पार हो रही है। हिरासत में लेकर रेप, हत्या जैसी वारदात को अंजाम दिया जा रहा है। ऐक्टिविस्ट्स और पत्रकारों के मानवाधिकारों का उल्लंघन वहां आम है,पास है।


सब ओर से सफलता प्राप्त होगी:कुंभ

राशिफल


मेष-पार्टी व पिकनिक का आनंद प्राप्त होगा। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। स्वादिष्ट व्यंजनों का लाभ प्राप्त होगा। नौकरी में नया कार्य कर पाएंगे। थकान रह सकती है। मन में नए विचार आएंगे जिनको मूर्तरूप देने के लिए प्रयास कर पाएंगे। व्यवसाय अच्‍छा चलेगा।


वृष-दूर से कोई बुरी सूचना मिल सकती है। वाणी में हल्के शब्दों के प्रयोग से बचें। आवश्यक वस्तु समय पर नहीं मिलने से खिन्नता रहेगी। दौड़धूप अधिक होगी। कारोबार अच्‍छा चलेगा। नौकरी में कार्यभार रहेगा। आय में निश्चितता रहेगी।


मिथुन-सामाजिक कार्य करने की प्रेरणा मिलेगी। मेहनत का फल प्राप्त होगा। घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। उत्साह व प्रसन्नता से कार्य कर पाएंगे। व्यस्तता के चलते थकान हो सकती है। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। नौकरी में प्रभाव बढ़ेगा। लाभ होगा।


कर्क-आत्मसम्मान बना रहे, ऐसे कार्य करते रहें। दूसरे के कामों में हस्तक्षेप न करें। भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। नए संपर्क बनेंगे। विवाद में न पड़ें। शुभ समाचार प्राप्त होंगे। कारोबार लाभदायक रहेगा। नौकरी में चैन रहेगा। प्रमाद न करें।


सिंह-भेंट व उपहार की प्राप्ति हो सकती है। मान बढ़ेगा। रोजगार में वृद्धि होगी। भाग्योन्नति के प्रयास सफल रहेंगे। निवेश शुभ रहेगा। नौकरी में अधिकार बढ़ सकते हैं। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। उत्साह बना रहेगा। जल्दबाजी न करें।


कन्या-फालतू खर्च पर नियंत्रण रखें। कुसंगति से बचें। लेन-देन में जल्दबाजी न करें। वाणी में हल्के शब्दों का प्रयोग समस्या पैदा कर सकता है। कार्य की गति धीमी रह सकती है। नौकरी में सहकर्मी साथ नहीं देंगे। धन प्राप्ति सुगम होगी।


तुला-लाभदायक यात्रा होगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। नए काम मिलेंगे। आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी। प्रतिद्वंद्वी रास्ते से हट जाएंगे। रुके कार्य पूर्ण होंगे। व्यस्तता के चलते स्वास्थ्‍य प्रभावित हो सकता है। आलस्य रहेगा। प्रमाद न करें।


वृश्चिक-कार्यस्थल पर व कार्यप्रणाली में सुधार होगा। योजना फलीभूत होगी। मित्रों व रिश्तेदारों का सहयोग कर पाएंगे। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। शत्रु पस्त होंगे। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। लाभ में वृद्धि होगी। कार्य बनेंगे।


धनु-अध्यात्म में रुचि रहेगी। सत्संग का लाभ प्राप्त होगा। कानूनी अड़चन दूर होकर स्थिति अनुकूल बनेगी। आय में वृद्धि होगी। भाग्य का साथ रहेगा। बिगड़े काम बनेंगे। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। जीवन सुखमय व्यतीत होगा। जोखिम न लें।


मकर-चोट, दुर्घटना व विवाद आदि से हानि संभव है। कार्यक्षेत्र में लापरवाही न करें। क्रोध व उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। किसी बड़ी समस्या से परेशानी हो सकती है। विवेक का प्रयोग करें। व्यापार-व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निश्चितता रहेगी।


कुंभ-समय अनुकूल है। सभी ओर से सफलता प्राप्त होगी। धनलाभ के अवसर हाथ आएंगे। प्रेम-प्रसंग में भेंट व उपहार देना पड़ सकते हैं। मनोरंजन का समय प्राप्त होगा। कोर्ट व कचहरी के कार्यों में सफलता प्राप्त होगी। व्यापार व नौकरी मनोनुकूल रहेंगे।


मीन-स्थायी संपत्ति के बड़े सौदे बड़ा लाभ दे सकते हैं। आर्थिक स्थिति सुधरेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। नौकरी में उच्चाधिकारी की प्रसन्नता प्राप्त होगी। समय पर सभी काम होने से प्रसन्नता रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। जल्दबाजी न करें।


चौलाई का लाल साग व भाजी

चौलाई का सेवन भाजी व साग (लाल साग) के रूप में किया जाता है जो विटामिन सी से भरपूर होता है। इसमें अनेकों औषधीय गुण होते हैं, इसलिए आयुर्वेद में चौलाई को अनेक रोगों में उपयोगी बताया गया है। सबसे बड़ा गुण सभी प्रकार के विषों का निवारण करना है, इसलिए इसे विषदन भी कहा जाता है। इसमें सोना धातु पाया जाता है जो किसी और साग-सब्जियों में नहीं पाया जाता। औषधि के रूप में चौलाई के पंचाग यानि पांचों अंग- जड, डंठल, पत्ते, फल, फूल काम में लाए जाते हैं। इसकी डंडियों, पत्तियों में प्रोटीन, खनिज, विटामिन ए, सी प्रचुर मात्रा में मिलते है। लाल साग यानि चौलाई का साग एनीमिया में बहुत लाभदायक होता है। चौलाई पेट के रोगों के लिए भी गुणकारी होती है क्योंकि इसमें रेशे, क्षार द्रव्य होते हैं जो आंतों में चिपके हुए मल को निकालकर उसे बाहर धकेलने में मदद करते हैं जिससे पेट साफ होता है, कब्ज दूर होता है, पाचन संस्थान को शक्ति मिलती है। छोटे बच्चों के कब्ज़ में चौलाई का औषधि रूप में दो-तीन चम्मच रस लाभदायक होता है। प्रसव के बाद दूध पिलाने वाली माताओं के लिए भी यह उपयोगी होता है। यदि दूध की कमी हो तो भी चौलाई के साग का सेवन लाभदायक होता है। इसकी जड़ को पीसकर चावल के माड़ (पसावन) में डालकर, शहद मिलाकर पीने से श्वेत प्रदर रोग ठीक होता है। जिन स्त्रियों को बार-बार गर्भपात होता है, उनके लिए चौलाई साग का सेवन लाभकारी है।


अनेक प्रकार के विष जैसे चूहे, बिच्छू, संखिया, आदि का विष चढ गया हो तो चौलाई का रस या जड़ के क्वाथ में काली मिर्च डालकर पीने से विष दूर हो जाता है। चौलाई का नित्य सेवन करने से अनेक विकार दूर होते हैं।


उपभोक्ता संरक्षण बिल की विशेषता

उपभोक्ता संरक्षण एक्ट-1986, उपभोक्ताओं के अधिकारों को पुष्ट करता है और जिला, राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर शिकायतों के निवारण का प्रावधान करता है। ये शिकायतें वस्तुओं की खराबी या सेवाओं के दोषपूर्ण होने से संबंधित हो सकती हैं। एक्ट व्यापार के अनुचित तौर-तरीकों को अपराध के रूप में मान्यता देता है जिसमें किसी वस्तु या सेवा की क्वालिटी या मात्रा के संबंध में झूठी सूचना देना और भ्रामक विज्ञापन शामिल हैं। 


पिछले कुछ वर्षों के दौरान इस एक्ट के कार्यान्वयन में कई समस्याएं रही हैं। अनेक उपभोक्ताओं को एक्ट के अंतर्गत अपने अधिकारों की जानकारी नहीं थी। हालांकि उपभोक्ता मामलों की निपटान दर उच्च थी (लगभग 90%), लेकिन उनका निपटान होने में काफी समय लगता था। एक मामले को निपटाने में औसत 12 महीने लगते थे।4इसके अतिरिक्त एक्ट में उपभोक्ता और मैन्यूफैक्चरर के बीच के उन कॉन्ट्रैक्ट्स का उल्लेख नहीं था जिनकी शर्तें अनुचित होती हैं। इस संबंध में भारत के विधि आयोग ने सुझाव दिया था कि एक अलग कानून लागू किया जाए और कॉन्ट्रैक्ट की अनुचित शर्तो से जुड़ा एक ड्राफ्ट बिल पेश किया।


1986 के बिल को संशोधित करने के लिए 2011 में एक बिल प्रस्तुत किया गया ताकि उपभोक्ता कॉन्ट्रैक्ट की अनुचित शर्तों के खिलाफ शिकायतें और ऑनलाइन शिकायतें दर्ज करा सकें। हालांकि 15वीं लोकसभा के भंग होने के साथ यह बिल निरस्त हो गया।1986 के एक्ट का स्थान लेने के लिए लोकसभा में उपभोक्ता संरक्षण बिल, 2015 पेश किया गया। बिल में कई नए प्रावधान प्रस्तुत किए गए जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं : (i) प्रॉडक्ट लायबिलिटी, (ii) अनुचित कॉन्ट्रैक्ट्स, और (iii) रेगुलेटरी निकाय का गठन। उपभोक्ता मामलों से संबंधित स्टैंडिंग कमिटी ने इस बिल की जांच की और अप्रैल 2016 में अपनी रिपोर्ट सौंपी।[8] कमिटी ने निम्नलिखित के संबंध में अनेक सुझाव दिए : (i) प्रॉडक्ट लायबिलिटी, (ii) रेगुलेटरी निकाय (केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण अथॉरिटी) की शक्तियां और कार्य, (iii) भ्रामक विज्ञापन और ऐसे विज्ञापनों को एन्डोर्स करने वालों के लिए सजा, और (iv) जिला स्तर पर न्यायिक (एड्जुडिकेटरी) निकाय का आर्थिक क्षेत्राधिकार। 2015 के बिल का स्थान लेने के लिए जनवरी 2018 में उपभोक्ता संरक्षण बिल, 2018 पेश किया गया।


यमाचार्य नचिकेता वार्ता

गतांक से...
 मेरे प्यारे, वैदिक साहित्य में बहुत सी चर्चाएं आती रहती है। विद्या की विवेचना होती रहती है। आज मैं विशेष विवेचना नहीं दूंगा। देखो केवल अंतरण की विवेचना करूंगा, जो मानव चित्त का मंडल बना हुआ है। उन मंडलों में शब्द निहित रहते हैं चित्त निहित रहते हैं। जिनको मुनिवरो, देखो मनुष्य अपने में धारण करता हुआ अपनत्व की धाराओं को अपनाता है। 'ध्वनि गान्‌न्‌ ब्रह्म वाचा:' मुझे वह काल स्मरण आता रहता है। जब हमारे यहां एक ऋषि हुए हैं, जिन ऋषि का नाम तुगंध्‍वज कहलाता था। उन्हें तुगंध्‍वज ऋषि कहते थे। एक राजा हुए हैं सतयुग के काल में जिनका नाम महाराजा नल कहलाता था। महाराजा नल उनके चरणों में ओत'प्रॏत होता था। बाल अवस्था में उन्हीं के द्वारा शिक्षा अध्ययन करते थे। तो वह जो तुगं ध्वज ऋषि थे। वह दीप मालिका का ज्ञान जानते थे कि कैसे दीपक में प्रकाश आ जाता है। इस ध्वनि के कारण शब्दों से प्रणायाम के द्वारा कैसे मस्तिष्क जल हात्‌ में प्रकट होता हुआ दीप मालिका बन जाती है। तो मुनिवरो, राजा नल का बाल्यकाल का नाम श्वेतकेतु ब्रह्मचारी था, वह श्वेतकेतु ब्रह्मचारी उनके यहां अध्ययन करते थे। बाल अवस्था में उनको दिपमालिका का उन्होंने अध्ययन कराया। अध्ययन में इतने पारंगत हो गए कि वह दीप मालिका जब गाना गाते थे तो दीपक में प्रकाश आ जाता था। जैसे दीप मालिका एक पर्व हमारे यहां पर होता है। जिसको दीप मालिका कहते हैं। दीपको का प्रकाश हो जाता है तो उस समय देखो ध्वनि के द्वारा प्राण और ललाट दोनों का समन्वय करते हुए। जब वह गाना गाते थे तो मुनिवर नगर के दीपक प्रकाशित हो जाते थे। मुझे वह काल, उनका साहित्य स्‍मरण आता रहता है। जब वह बाल्यकाल में परायण हो गए। परायण होते हुए। 'संभव: देवो ब्रह्मवाचा: प्रवचन ब्रह्मवचोसी देवा:' ब्रह्म और चर्य दोनों का समन्वय होता है। क्योंकि वह श्वेतवृत्ति ब्रह्मचारी थे वह सदैव ब्रह्मचर्य में रत रहते थे। 'नरा नृत्‍यम्‌ वृहीव्रताम्‌' उनके गुरु ने जब उसे दीक्षित बनाया तो उसका नामकरण भी नल के रूप में परिणत हो गया। उसका नामकरण नल के रूप में जब परिणत हो गया। जब वह भोजनालय तपाने लगते थे तो अग्नि में ऐसा सुंदर भोजन तपाते थे। यह भी एक विधा होती है। वैदिक साहित्य में भिन्न-भिन्न प्रकार की विधाएं हैं। मेरी प्यारी माता भोजनालय में परिणित हो जाती है तो गायत्री छंदों का पठन-पाठन करती हुई अपने पुत्र को महान बना देती है। मुझे महर्षि गौतम का और अगस्त मुनि का जीवन स्मरण आता रहता है। अगस्त मुनि की माता का नाम श्‍वैशनै था। उनका नाम दिव्‍या कहलाता था। एक समय बाल काल में जब वह बालक 5 वर्ष का था। 5 वर्ष के पुत्र ने माता से यह कहा। हे माता, तुमने मुझे संस्कारों से जन्म दिया है परंतु मैं यह चाहता हूं कि मुझे तू 12 वर्ष का भोजन प्रदान कर। जिससे मेरा अंतरात्मा उसे पवित्र हो जाए। माता ने वह वाक्य स्वीकार कर लिया। स्वीकार करके माता भोजनालय एकांत हृदय की संतुलनता को करती हुई वह भोजन करा, भोजन को तपाती थी अग्नि में, तपाने के पश्चात बालक को भोजन कराती थी। 12 वर्ष के पश्चात मेरे प्यारे ऋषि अगस्त मुनि महाराज आत्मा और परमात्मा की प्रतिभा को जानकर के विज्ञान की धाराओं को अन्य में जितने विज्ञान की तरंगे होती है उनको सबको जान करके वह महान बन गया। तो विचार क्या है माता जब भोजन बनाती है भोजन तपाती है अग्नि में, तो योगेश्वर बना देती है। गायत्री का जपन हो जाता है भोजन बना रही है। ध्‍वनिया वेदो का गाना गा रही है। वह तरंगित भोजन को बालक पान करता है तो बालक महान बन जाता है। पुत्र बन जाता है। माता वही सौभाग्यशाली होती है जिस माता के गर्भ से बालक ब्रह्म वेता या ब्रह्मविचारक बन जाए। जिससे वह परमपिता परमात्मा के क्षेत्र में महानता को प्राप्त हो जाए। महाराजा नल के जीवन का मुझे वह काल स्मरण आता रहता है। मेरे पूज्य पाद गुरुदेव भी मुझे इसकी वार्ता प्रकट कराते रहते थे।  यह वार्ताएं मेरे हृदय  में आती रहती है। महाराजा नल जब वह गान गाते थे तो रात्रि काल में दीपमालिका नगरों की बन जाती थी। वह इतने परायण बन गए थे। जब उनके राष्ट्र के बंटवारे के ऊपर कुछ भिन्नता आई तो महाराजा नल का संस्कार भी हो गया था। महाराजा नल का संस्कार महारानी दमयंती के द्वारा हुआ। तो मुनिवर देखो, 'ब्रह्म वाचपृही लोकाम वसूरधर्म ब्रहे' में  महाराज पुष्कर ने जब उनके राज्य को अपना लिया और 12 वर्ष की प्राप्ति वन प्राप्ति हो गई। तो भयंकर वन में पति-पत्नी दोनों ने गमन किया और भयंकर वनों में महाराजा नल उस  बृह्‍म अस्‍वतो में पत्नी को भी त्याग दिया। त्याग देने के पश्चात वह तो तुगंध्वज राजा के राष्ट्र में चले गए  और महारानी दमयंती गमन करती हुई एकांत रह गई। वनों में भ्रमण करती हुई अपने पिता के द्वार चली गई। जब महारानी दमयंती को यह प्रतीत हो गया कि मेरा स्वामी कहीं है और यह प्रतीत हुआ कि स्वामी तुगंध्वज राजा के यहां है, तो वह कैसे आए?


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

यूनिवर्सल एक्सप्रेस


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण


september 21, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254


1. अंक-49 (साल-01)
2. शनिवार,21 सितबंर 2019
3. शक-1941,अश्‍विन, कृष्‍णपक्ष,तिथि सप्‍तमी,विक्रमी संवत 2076


4. सूर्योदय प्रातः 6:12,सूर्यास्त 6:10
5. न्‍यूनतम तापमान -26 डी.सै.,अधिकतम-34+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, बरसात की संभावना रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275
 (सर्वाधिकार सुरक्षित)


सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...