तमिलनाडु लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
तमिलनाडु लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 2 सितंबर 2021

निजीकरण: केंद्र के प्रयास का विरोध करेगी सरकार

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने बृहस्पतिवार को राज्य की विधानसभा में कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों का निजीकरण राष्ट्रहित में नहीं है और उनकी सरकार सार्वजनिक उपक्रमों के निजीकरण के केंद्र के प्रयास का विरोध करेगी। स्टालिन ने कहा कि भारत के सार्वजनिक उपक्रम सार्वजनिक संपत्ति हैं। जिन्हें आर्थिक विकास को बढ़ावा देने और रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए स्थापित किया गया है और ये छोटे व सूक्ष्म उद्यमों का आधार भी हैं।

उन्होंने कहा, ”हमारा मानना ​​है कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों को बेचना या पट्टे पर देना राष्ट्रहित में नहीं है।” उन्होंने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयाँ सार्वजनिक बेहतरी और कल्याण के बड़े लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए काम करती हैं और केवल लाभ कमाना ऐसे उद्यमों का मकसद नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह सार्वजनिक उपक्रमों के निजीकरण की प्रवृत्ति को लेकर केंद्र सरकार के प्रति अपनी सरकार के विरोध को व्यक्त करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखेंगे।

शुक्रवार, 20 अगस्त 2021

मद्रास एचसी ने राजभाषा अधिनियम का निर्देश दिया

मदुरै। मद्रास उच्च न्यायालय ने राजभाषा अधिनियम का उल्लेख करते हुए केंद्र को निर्देश दिया है कि यदि कोई वादी अंग्रेजी भाषा में पक्ष रखता है तो उसे उसी भाषा में जवाब दिया जाए। अदालत ने कहा कि ऐसा करना केंद्र सरकार का कर्तव्य है। न्यायमूर्ति एन किरुबाकरन और न्यायमूर्ति एम दुरईसामी ने मदुरै से माकपा सांसद एस वेंकटेशन की जनहित याचिका पर कहा कि प्रत्येक व्यक्ति को संघ या राज्य में इस्तेमाल होने वाली किसी भी भाषा में पक्ष रखने का अधिकार है।

उन्होंने बृहस्पतिवार को कहा कि राजभाषा अधिनियम भी यही कहता है। पीठ ने कहा कि अगर अंग्रेजी भाषा में पक्ष रखा गया है तो केंद्र सरकार का कर्तव्य है कि उसी भाषा में जवाब दिया जाए। सांसद ने अपनी याचिका में केंद्र को यह निर्देश देने का अनुरोध किया था कि उसे केंद्र तथा राज्य सरकारों के बीच सभी पत्राचारों में अंग्रेजी भाषा का इस्तेमाल करना चाहिए।

शनिवार, 10 जुलाई 2021

तमिलनाडु में 19 जुलाई तक बढ़ाया गया लॉकडाउन

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने राज्य में लागू कोविड लॉकडाउन को अतिरिक्त राहत के साथ एक सप्ताह और बढ़ाए जाने की शनिवार को घोषणा की। एम के स्टालिन ने यहां एक बयान में कहा कि राज्य में गत 10 मई से लॉकडाउन लगाया गया था। जिसमें प्रत्येक सप्ताह चरणबद्ध ढंग से विस्तार किया जाता रहा है। मौजूदा लॉकडाउन की मियाद सोमवार को समाप्त होने जा रही है। जिसे अब 19 जुलाई तक बढ़ा दिया गया है।

हालांकि, पहले से घोषित छूट जारी रहेंगी। इसके साथ ही पुड्डुचेरी को छोड़कर अन्य अंतर्राज्यीय सार्वजनिक और निजी परिवहन चलते रहेंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से अनुमति प्राप्त अंतर्राष्ट्रीय हवाई सेवाओं को छोड़कर थिएटर, बार, स्विमिंग पूल, प्राणी उद्यान, स्कूल और काॅलेज बंद रहेंगे तथा सामाजिक एवं राजनीतिक गतिविधियों की अनुमति नहीं होंगी।

मंगलवार, 6 जुलाई 2021

सीएम ने संशोधन विधेयक 2021 का विरोध किया

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने मंगलवार को मसौदा सिनेमेटोग्राफ (संशोधन) विधेयक, 2021 का विरोध किया और कहा कि प्रस्तावित “संशोधन अपने आप में नागरिक संस्थाओं में सही सोच को बढ़ावा देने की भावना के खिलाफ है और इसे वापस लिये जाने की मांग की। केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद को भेजे गए एक पत्र में उन्होंने कहा कि फिल्म समुदाय की रचनात्मक सोच पर अंकुश लगाना और फिल्में कैसे बनाई जाएं उन पर यह शर्त थोपना “पूर्णत: अनुचित” है। तमिल फिल्म निर्माता परिषद समेत राज्य के फिल्म उद्योग के प्रतिनिधियों के एक प्रतिनिधिमंडल द्वारा मुलाकात कर केंद्र के समक्ष यह मामला उठाने का अनुरोध किये जाने के एक दिन बाद स्टालिन ने प्रसाद के समक्ष यह मामला उठाया। स्टालिन ने कहा, “मसौदा विधेयक ने न सिर्फ फिल्म समुदाय से जुड़े लोगों और फिल्म उद्योग के मन में बल्कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को मानने वाले समाज के वर्गों के मन में भी गहरी आशंकाओं को जन्म दिया है।” उन्होंने कहा कि एक जीवंत लोकतंत्र को रचनात्मक सोच और कलात्मक स्वतंत्रता के लिये पर्याप्त गुंजाइश रखनी चाहिए। 
प्रस्तावित संशोधन में फिल्म पाइरेसी के लिए जेल की सजा और जुर्माने का प्रावधान , उम्र आधारित प्रमाणपत्र जारी करने का नियम लागू करने और शिकायत प्राप्त होने की स्थिति में पहले से प्रमाणपत्र पा चुकी फिल्मों को दोबारा प्रमाणपत्र जारी करने का अधिकार केन्द्र सरकार को देने की बात प्रमुख है।

बुधवार, 16 जून 2021

तमिलनाडु: 1 और शेर की सार्स-कोव-2 से मौंत हुईं

चेन्नई। तमिलनाडु में चेन्नई के पास वंदालुर में स्थित अरिगनार अन्ना प्राणी उद्यान (एएजेडपी) में एक और शेर की सार्स-कोव-2 से बुधवार सुबह मौत हो गई। 12 वर्षीय एशियाई नर शेर की मौत की पुष्टि करते हुए एएजेडपी के उप निदेशक ने कहा कि पथबनाथन नाम के शेर को उद्यान के सफारी क्षेत्र में रखा गया था। उन्होंने एक बयान में बताया कि राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान (एनआईएचएसएडी), भोपाल की रिपोर्ट के मुताबिक, इस शेर के नमूनों में सार्स-कोव-2 का संक्रमण मिला था। तीन जून से ही शेर का गहन इलाज किया जा रहा था।

इससे पहले तीन जून को ही चिड़ियाघर में नीला नाम की शेरनी की कोरोना वायरस के कारण मौत हो गई थी। बयान में कहा गया है कि पशुओं में इस संक्रमण का पता चलने के बाद से चिड़िया घर प्रबंधन इसका हर संभव प्रयास कर रहा है कि अन्य जानवरों तक इस वायरस का प्रसार नहीं हो। जानवरों के बाड़े संक्रमण मुक्त किए जा रहे हैं और कर्मचारियों के लिए पीपीई किट पहनना अनिवार्य किया गया है।


सोमवार, 14 जून 2021

महिलाएं भी मंदिर में पुजारी नियुक्त, ऐलान किया

चेन्नई। तमिलनाडु हिंदू धर्म व धर्माथ मंत्री पी के शेखर बाबू ने ऐलान किया है कि जरूरी प्रशिक्षण के बाद महिलाओं को भी मंदिर में पुजारी नियुक्त किया जा सकता है। उनकी इस घोषणा का समर्थन भी हो रहा है और विरोध भी। तमिलनाडु भाजपा प्रमुख एल मुरुगन ने कहा है कि प्राचीन दिनों से महिलाओं को ‘आगम शास्त्र’ में विशेषज्ञता है और वे यहां पास में मेलमरवथुर में स्थित आदिपराशक्ति जैसे मंदिरों में पूजा कर भी रही हैं। उन्होंने कहा कि अंडाल के पसुराम में पांचरात्र आगम की उपासना पद्धति का प्रभाव देख सकता है। आगम शास्त्रों में मंदिरों में पूजा और अन्य अनुष्ठानों से संबंधित मानदंड और संरचना, मंदिरों के निर्माण शामिल हैं तथा पांचरात्र एक मत है।भगवा दल ने समाज के सभी लोगों को पुजारी के तौर पर नियुक्त करने के कदम का स्वागत किया। 
मुरूगन ने कई ऐसे मंदिर बताए जहां विभिन्न जाति के लोग पहले से पुजारी का काम कर रहे हैं। वह जाहिर तौर पर यह संकेत दे रहे हैं कि प्रस्ताव पूरी तरह से नया नहीं है। उन्होंने एक बयान में कहा, “हम लोगों को याद दिलाना चाहते हैं कि प्राचीन काल से हमारी तमिल संस्कृति में हमारे मंदिरों में अलग अलग जातियों के लोग और महिलाएं पुजारी रहे हैं। शनिवार को बाबू ने कहा था कि कई महिलाओं ने मंदिर में पुजारी के तौर पर सेवा देने की इच्छा व्यक्त की है और उन्हें इस पद पर ‘आगम शास्त्रों’ में प्रशिक्षित किए जाने के बाद नियुक्त किया जा सकता है और मामले को मुख्यमंत्री एमके स्टालिन के संज्ञान में लाया गया है। उन्होंने कहा कि हिंदुओं के सभी समाजों से संबंध रखने वालों लोगों को जल्द ही मंदिरों में पुजारी नियुक्त किया जाएगा।
विभिन्न हिंदू संगठनों में अलग अलग पदों पर काम कर चुके राम रविकुमार ने सभी जातियों के लोगों को पुजारी के पद पर नियुक्त करने के प्रस्ताव का स्वागत करते हुए महिलाओं को पुजारी नियुक्त करने का विरोध किया है और इसे परंपरा के खिलाफ बताया है। आरएसएस की हिंदू मुनानी समेत कई संगठनों से जुड़ रहे और हिंदू तमिझर कटची के मुख्य संस्थापक रवि कुमार ने कहा, “ अगर आप आज यह स्वीकार कर लेते हैं तो कल वे सबरीमला मंदिर में महिलाओं को प्रवेश देने की मांग करेंगे और इसका कोई अंत नहीं होगा तथा आखिर में अव्यवस्था होगी।

रविवार, 6 जून 2021

चेन्नई: 12वीं की परीक्षा रद्द, समिति का गठन किया

चेन्नई। तमिलनाडु सरकार ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के मद्देनजर राज्य बोर्ड की 12वीं की परीक्षा रद्द कर दी है तथा छात्रों को अंक देने के तौर-तरीकों पर विचार करने के लिए एक समिति का गठन करने की घोषणा की है। राज्य सरकार ने यह कदम केंद्र सरकार द्वारा कोविड-19 के कारण केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) की 12वीं की परीक्षा रद्द करने के बाद उठाया है। मुख्यमंत्री एम. के. स्टालिन ने एक आधिकारिक बयान में शनिवार को देर शाम कहा कि स्कूल शिक्षा मंत्री बिल महेश पोय्यामोझी द्वारा सर्वदलीय बैठक तथा शिक्षाविद, राजनेता, शिक्षक संघ, चिकित्सा पेशेवर,मनोचिकित्सक, छात्र और माता-पिता की राय के आधार पर रिपोर्ट पेश करने के बाद परीक्षा को रद्द करने का फैसला लिया। 

उन्होंने कहा कि यह फैसला छात्रों के हित में लिया गया है। सरकार राज्य बोर्ड पाठ्यक्रम के आधार पर बिना किसी परेशानी के छात्रों को उच्च शिक्षण संस्थानों में दाखिला दिलाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि बोर्ड की परीक्षाएं रद्द हो जाने के बाद राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) जैसी राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाएं आयोजित करना उचित नहीं होगा। अभी तक हालांकि इस संबंध (नीट परीक्षा) में घोषणा नहीं हुई है। एम. के. स्टालिन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को को पत्र लिख कर उच्च शिक्षा पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए आयोजित होने वाली प्रवेश परीक्षा को रद्द करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि केंद्र पहले ही सीबीएसी 12वीं बोर्ड की परीक्षा को रद्द कर चुका है तथा कईं अन्य राज्यों ने भी बोर्ड की परीक्षाएं रद्द कर दी है।

शनिवार, 5 जून 2021

लॉकडाउन को 14 जून तक बढ़ाने का फैसला किया

चेन्नई। तमिलनाडु में कोविड-19 महामारी के मद्देनजर लॉकडाउन को एक सप्ताह और सात से 14 जून तक के लिए बढ़ाने का फैसला किया गया है। तमिलनाडु सरकार ने लॉकडाउन को कुछ और ढील के साथ एक सप्ताह के लिए बढ़ाने की शनिवार को घोषणा की। तमिलनाडु के कई जिलों में कोरोना के मामले कम हो रहे हैं लेकिन कई क्षेत्रों में स्थिति अभी भी गंभीर है। राज्य में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण 10 मई को लॉकडाउन लगाया गया था जिसके बाद से इसे हर हफ्ते बढ़ाया जा रहा है। 
मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने यहां जारी बयान में कहा कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने और लोगों के अनमोल जीवन को बचाने के लिए जिले-वार स्थिति की समीक्षा के बाद स्वास्थ्य एवं चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ इस पर चर्चा के आधार पर लॉकडाउन को बढ़ाने का निर्णय लिया गया है। तमिलनाडु के चेन्नई, उत्तरी और दक्षिणी जिलों में कोरोना के मामले कम हुये हैं इसलिए इन क्षेत्रों में लॉकडाउन में अधिक ढील दी गई है। राज्य के 11 जिलों -कोयंबटूर, नीलगिरि, तिरुप्पुर, इरोड, सेलम, करुर, नमक्कल, तंजावुर, तिरुवरुर, नागपट्टिनम, मयिलादुथुरई- में कोरोना के अधिक मामलों को देखते हुये लॉकडाउन में कम छूट दी गई है। 
राज्य में लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाएं जारी रहेंगी। लेकिन सार्वजिनक एवं निजी परिवहन सेवाएं, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, मॉल, पर्यटक स्थल, थियेटर, सैलून और स्पा बंद रहेंगे।

शनिवार, 22 मई 2021

24 मई से 1 हफ्ते तक पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा

इकबाल अंसारी  
चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने राज्य में कोरोना संक्रमण पर काबू पाने के लिए 24 मई से एक हफ्ते की अवधि तक पूर्ण लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की है। स्टालिन ने चिकित्सा, स्वास्थ्य विशेषज्ञों और सभी पार्टी नेताओं के साथ विचार विमर्श करने के बाद घोषणा की कि राज्य में एक हफ्ते की अवधि तक पूर्ण लॉकडाउन बढ़ाया जाएगा। वर्तमान लॉकडाउन की अवधि 24 मई को समाप्त हो रही है। एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि सोमवार से लागू होने वाले पूर्ण लॉकडाउन के मद्देनजर आज राज्य में सभी दुकानें शाम नौ बजे तक खुलेंगी और कल से इनका समय सुबह छह बजे से शाम नौ बजे तक होगा। शनिवार और सोमवार को सभी सार्वजनिक और निजी ट्रांसपोर्ट सेवाएं जारी रहेंगी।
लॉकडाउन की अवधि में फार्मेसी, मेडिकल स्टोर, वेटरनरी क्लीनिक, दूध, पानी और अन्य सामान की दुकानें तथा समाचार वितरण कार्यालय खुलेंगे। इसमें कहा गया है कि लॉकडाउन में सब्जियों और अन्य सामान की दुकानें बंद रहेंगी लेकिन लोगों की जरूरतों को देखते हुए फलों तथा सब्जियों को चेन्नई शहर और अन्य जिलों में बागवानी विभाग और स्थानीय निकाय की मदद से बेचा जाएगा। सभी आवश्यक विभागों में राज्य सचिवालय से काम होगा लेकिन प्राइवेट फर्मा, बैंकों, बीमा कंपनियों, आईटी और आईटीईएस स्टाफ को घर से काम करने की अनुमति होगी।

इस अवधि में पेट्रोल पंप, एटीएम, कृषि सामानों को ले जाने वाले वाहनों तथा आवश्यक सामग्री को ढोने वाले वाहनों को छूट रहेगी। लोगों को एक जिले से दूसरे जिले में आवश्यक चिकित्सा कारणों और अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने के लिए ई-रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता होगी लेकिन एक ही जिले में आने जाने के लिए यह आवश्यक नहीं होगा।

शुक्रवार, 21 मई 2021

सीएम स्टालिन ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र, मांग की

मनोज सिंह ठाकुर             

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हत्याकांड के सभी सात दोषियों को रिहा करने की मांग की है। उन्होंने इस संबंध में सभी दोषियों की रिहाई को लेकर सितंबर 2018 के राज्य सरकार के प्रस्ताव को स्वीकार करने की भी अपील की है।

स्टालिन की ओर से कोविंद को लिखा गया पत्र द्रमुक संसदीय दल के नेता टी आर बालू ने दिल्ली में उन्हें सौंपा। पत्र में सभी सात दोषियों एस. नलिनी, मुरुगन, संथान, ए.जी. पेरारिवलन, जयकुमार, रॉबर्ट प्यास और पी. रविचंद्रन की सजा माफ करने और उनकी तत्काल रिहाई का आदेश देने का अनुरोध किया गया है।

गुरुवार, 13 मई 2021

तमिलनाडु के संयंत्र में बॉयलर फटा, चार की मौत

कुडलूर। तमिलनाडु के कुडलूर में रसायन के एक संयंत्र में बृहस्पतिवार को ब्वायलर फटने और उसके बाद अमोनिया गैस का रिसाव होने के कारण एक महिला समेत चार कर्मचारियों की मौत हो गई तथा दस लोग घायल हो गए। राज्य सरकार ने यह जानकारी दी।
मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने मृतकों के परिजन को तीन-तीन लाख रूपये का मुआवजा तथा घायलों को एक-एक लाख रूपये का मुआवजा देने के आदेश दिए हैं। एक सरकारी विज्ञप्ति में बताया गया कि ब्वायलर में विस्फोट के बाद अमोनिया गैस का रिसाव हुआ जिसके चलते चार लोगों की मौत हो गई तथा दस लोग घायल हो गए।
पुलिस ने बताया कि संयंत्र में फसलों की सुरक्षा में इस्तेमाल होने वाले रसायनों का उत्पादन किया जाता है। आज सुबह जब घटना घटी तब सभी कर्मचारी काम कर रहे थे। उन्होंने बताया कि विस्फोट के बाद गैस रिसाव होने पर एक महिला और तीन पुरूषों की दम घुटने से मौत हो गई तथा दस लोग घायल हो गए।
कुडलूर जिले के पुलिस अधीक्षक अभिनव ने संवाददाताओं को बताया कि उन लोगों की मौत दम घुटने के कारण हुई। वे झुलसे नहीं थे। उन्होंने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच जारी है। श्रम मंत्री सीवी गणेशन ने कहा कि हादसे की जांच करवाई जाएगी। घायलों को कुडलूर के जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

सोमवार, 10 मई 2021

सीएम पलानीस्वामी को विधायक दल का नेता चुना

चेन्नई। पूर्व मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी को सोमवार को यहां करीब तीन घंटे तक चली बैठक में सर्वसम्मति से अन्नाद्रमुक विधायक दल का नेता चुना गया। जिसके बाद उनका तमिलनाडु विधानसभा में नेता विपक्ष बनना तय हो गया है। नव-निर्वाचित विधायकों की बैठक में पार्टी का एक धड़ा पलानीस्वामी और दूसरा धड़ा पार्टी के समन्वयक ओ. पनीरसेल्वम को पार्टी का नेतृत्व सौंपने की वकालत कर रहा था। बैठक के बाद पार्टी ने एक बयान में पलानीस्वामी को विधायक दल का नेता चुने जाने की घोषणा की। पलानीस्वामी और पनीरसेल्वम दोनों ने एक संयुक्त बयान में कहा कि यह फैसला सर्वसम्मति से लिया गया है। इसके बाद, पार्टी के नेता तमिलनाडु विधानसभा के सचिव के. श्रीनिवासन से मिले और उन्हें पलानीस्वामी के चयन से जुड़ा एक पत्र सौंपा। विधायकों ने सात मई को भी बैठक की थी, लेकिन उस बैठक में विधायक दल का नेता चुने जाने पर आम सहमति नहीं बन पाई थी। पार्टी में मुख्यालय में आज जब बैठक जारी थी, तब सोशल मीडिया पर कुछ खबरों में यह भी दावा किया गया कि मतभेदों को दूर करने के लिए विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष पी. धनपाल के नाम पर भी विचार किया जा रहा है।

शनिवार, 8 मई 2021

10 से 24 मई तक पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा

चेन्नई। तमिलनाडु में कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ने के बीच सरकार ने इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए राज्यभर में दो हफ्ते का ‘‘पूर्ण लॉकडाउन’’ लगाने की शनिवार को घोषणा की। मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने एक बयान में कहा कि ‘‘अपरिहार्य कारणों’’ से लॉकडाउन लगाया जा रहा है और चिकित्सा विशेषज्ञों के अलावा शुक्रवार को जिलाधिकारियों के साथ हुई समीक्षा बैठक से मिली जानकारियों के आधार पर यह फैसला लिया गया है। उन्होंने कहा, ‘‘पूर्ण लॉकडाउन 10 मई को सुबह चार बजे से 24 मई को सुबह चार बजे तक लागू रहेगा।’’
तमिलनाडु में शुक्रवार को कोरोना वायरस के 26,465 नए मामले आए और पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 197 लोगों की मौत हुई। इसके साथ राज्य में संक्रमण के मामले 13.23 लाख हो चुके हैं और मृतकों की संख्या 15,171 पर पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, 1,35,355 मरीजों का उपचार चल रहा है।

शुक्रवार, 7 मई 2021

स्टालिन ने तमिलनाडु के सीएम पद की शपथ लीं

 चेन्नई। एम के स्टालिन ने आज तमिलनाडु के मुख्यमंत्री पद की शपथ ले ली। स्टालिन ने पहली बार मुख्यमंत्री बनें हैं। स्टालिन ने अपना कार्यभार संभालने के बाद सबसे पहले कोरोना राहत के रूप में हर परिवार को 4,000 रुपये प्रदान करने के आदेश पर हस्ताक्षर        किए।  2,000 रुपये की पहली किस्त मई महीने में दी जाएगी। सीएम स्टालिन ने यह भी घोषणा की कि राज्य सरकार सभी स्टेट गवर्नमेंट इंश्योरेंश कार्डहोल्डर्स का निजी अस्पतालों में कोरोना संबंधित उपचार का खर्च वहन करेगी।
15 सदस्य पहली बार बनें मंत्री...
स्टालिन के मंत्रिमंडल में उनके साथ 33 सदस्य शामिल किए गए गए हैं। इन 33 सदस्यों में 15 पहली बार मंत्री    बनें हैं। वहीं, स्टालिन ने दपरईमुरुगन जैसे वरिष्ठ नेताओं को इस मंत्रिमंडल में बरकरार रखा है।आपको बता दें।कि द्रमुक के नेता व पार्टी सचिव दपरईमुरुगन जल संसाधन मंत्री होंगे। इससे पहले वाली सरकार 2006-11 में वो लोक निर्माण मंत्री के पद पर थे। स्टालिन खुद गृह के अलावा सार्वजनिक व सामान्य प्रशासन समेत अखिल भारतीय सेवाएं और अन्य विभाग संभालेंगे।

मंगलवार, 4 मई 2021

450 सिलेंडरों को लेकर तमिलनाडु पहुंचा विमान

चेन्नई। भारतीय वायुसेना का विमान ब्रिटेन से 450 खाली ऑक्सीजन सिलेंडरों समेत करीब 35 टन चिकित्सीय उपकरणों को लेकर मंगलवार को तमिलनाडु पहुंचा। रक्षा मंत्रालय की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक वायुसेना के दो सी-17 ग्लोबमास्टर मालवाहक विमान ब्रिटेन से चिकित्सीय उपकरण लाने के लिए दो मई को गुजरात के जामनगर वायु सैन्य अड्डे से रवाना हुए थे।वायु सेना के दोनों विमान लगातार साढ़े 11 घंटे की उड़ान के बाद ब्रिटेन के ब्रिज नॉर्टन पहुंचे और वहां से जीवन रक्षक चिकित्सीय उपकरण लेकर देश रवाना हुए। वायु सेना का पहला विमान स्थानीय समयानुसार करीब दो बजे ब्रिटेन पहुंचा और 450 खाली ऑक्सीजन सिलिंडरों समेत करीब 35 टन चिकित्सीय उपकरणों को लेकर भारत रवाना हो गया। वायु सेना का विमान मंगलवार को यहां सुबह करीब पांच बजे पहुंचा।भारत के अनेक हिस्सों के कोविड-19 की दूसरी लहर से गंभीर रूप से प्रभावित होने के बीच अमेरिका, संयुक्त अरब अमीरात, ब्रिटेन जैसे देशों से चिकित्सा सहायता के रूप तरल चिकित्सीय आक्सीजन, आक्सीजन सिलिंडर, आक्सीजन सांद्रक आदि आने का सिलसिला जारी है।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, हमारे समग्र सामरिक साझीदारी को और मजबूत बनाते हुए। 20 मीट्रिक टन तरल चिकित्सा आक्सीजन (एलएमओ) सहित 7 आईएसओ टैंकर मुद्रा बंदरगाह (भारत) पहुंचे। यूएई के सहयोग को काफी महत्व देते हैं। हमें आक्सीजन की उपलब्धता बढ़ाने में मदद मिलेगी।’’
एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि महामारी के खिलाफ लड़ाई में भारत और ब्रिटेन के गठजोड़ की क्षमता को प्रदर्शित करते हुए। भारतीय वायु सेना के विमान से 450 आक्सीजन सिलिंडर चेन्नई पहुंचा। ब्रिटेन के समर्थन के आभारी हैं। बागची ने कहा कि अमेरिका से चिकित्सा उपकरणों की पांचवीं खेप पहुंची। इसमें 545 आक्सीजन सांद्रक हैं। अमेरिका के समर्थन की सराहना करते हैं।

सोमवार, 26 अप्रैल 2021

मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को जिम्मेदार ठहराया

चेन्नई। मद्रास उच्च न्यायालय ने राजनीतिक रैलियों को प्रतिबंधित नहीं करने के लिए चुनाव आयोग को आड़े हाथों लेते हुए देश में कोरोना महामारी के दूसरे दौर के लिए अकेले चुनाव आयोग को जिम्मेदार ठहराया है। न्यायालय ने सोमवार को यह भी चेतावनी दी कि यदि चुनाव आयोग कोरोना दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित नहीं कराता है तो न्यायालय दो मई को होने वाली मतगणना को रोकने के लिए मजबूर होगा।परिवहन मंत्री एम आर विजयभास्कर ने इस संबंध में याचिका दायर करके चुनाव आयोग से सुरक्षा उपायों का कड़ाई से पालन कराने और निष्पक्ष मतगणना सुनिश्चित कराने को लेकर एक दिशा-निर्देश जारी करने की गुहार लगायी थी। मुख्य न्यायाधीश संजीव बनर्जी और न्यायमूर्ति सेंथिलकुमार राममूर्ति ने छह अप्रैल को एक चरण के चुनाव के दौरान चुनावी रैलियों में जानबूझकर कोरोना दिशा-निर्देशों का उल्लंघन रोकने के लिए राजनीतिक दलों को नहीं रोकने के वास्ते चुनाव आयोग की जमकर खिंचााई की।


रविवार, 11 अप्रैल 2021

कांग्रेस के उम्मीदवार की कोरोना संक्रमण से मौत

चेन्नई। तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में श्रीविल्लिपुथुर निर्वाचन क्षेत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार की कोविड-19 संक्रमण से मौत हो गई। कांग्रेस उम्मीदवार पीएसडब्ल्यू माधव राव पिछले दिनों कोविड पॉजिटिव पाए गए थे।जिसके बाद लगातार उनके स्वास्थ्य में गिरावट आती गई और आज उनका निधन हो गया। चूंकि उनका निधन चुनाव प्रक्रिया संपन्न होने के बाद हुआ है। इसलिए मतदान दोबारा नहीं होगा लेकिन अगर वह अपने निर्वाचन क्षेत्र में जीत जाते हैं तो उपचुनाव कराए जाएंगे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) के तमिलनाडु और पुडुच्चेरी के प्रभारी संजय दत्त ने इसकी जानकारी देते हुए दुख प्रकट किया।                                   
उन्होंने लिखा कि कोविड संक्रमण के चलते तमिलनाडु कांग्रेस के नेता और श्रीविल्लिपुथुर विधानसभा सीट के उम्मीदवार माधव राव के निधन से गहरे दुख में हूं  उन्होंने दुख जाहिर करते हुए लिखा कि इस कष्टदायक समय में हम उनके परिवार के साथ खड़े हैं और आत्मा की शांति की प्रार्थना करते हैं।
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तमिलनाडु के 38 जिलों की 234 विधानसभा सीटों पर 6 अप्रैल को मतदान की प्रक्रिया संपन्न हुई चुनावों के नतीजों का ऐलान 2 मई को किया जाएगा।

मंगलवार, 6 अप्रैल 2021

अभिनेता अजित ने शालिनी के साथ किया मतदान

चेन्नई। तमिलनाडु में आज सुबह सात बजे शुरु हुए विधानसभा चुनाव में अभिनेता रजनीकांत, अभिनेता अजित, राजनीतिज्ञ और मक्कल नीधि मैयम (एमएनएम) संस्थापक कमल हासन, उप मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम, विपक्षी द्रमुक के अध्यक्ष एम के स्टालिन और तेलंगाना, पुड्डुचेरी की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन ने सहित अन्य नेताओं ने मतदान अभिनेता अजित ने पत्नी शालिनी के साथ मतदान केंद्र पहुंच कर मतदान किया। 

इस बीच इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में कुछ मामूली गड़बड़ियों के कारण मतदान प्रक्रिया में देरी हुई। अभिनेता रजनीकांत ने स्टेला मैरी के कॉलेज में स्थिति मतदान केन्द्र पर वोट डाला। तेलंगाना और पुडुचेरी की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन सहित शीर्ष नेताओं ने शहर के एक बूथ में अपना वोट डाला।

शनिवार, 3 अप्रैल 2021

भाजपा गठबंधन लोगों की रक्षा कर सकता है: शाह

चेन्नई। केंद्रीय गृह मंत्री ने शनिवार को कथित ‘भ्रष्टाचार और वंशवाद की राजनीति’ के लिए द्रमुक-कांग्रेस गठबंधन पर निशाना साधते हुए कहा कि सिर्फ अन्नाद्रमुक-भाजपा गठबंधन ही तमिलनाडु की संस्कृति में विश्वास करने वाले लोगों की रक्षा कर सकती है। 

थाउजेंड लाइट्स सीट से भाजपा की उम्मीदवार खुशबू सुंदर के समर्थन में यहां आयोजित एक रोड शो में शामिल होने के बाद शाह संवाददाताओं से बात कर रहे थे। वरिष्ठ भाजपा नेता ने जनता से तमिलनाडु के विकास के लिए राज्य में ‘डबल इंजन’ सरकार बनाने की अपील की। अन्नाद्रमुक, भाजपा और पीएमके राज्य में राजग बैनर के तहत चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने यहां मतदाताओं से भारी बहुमत के साथ राजग उम्मीदवारों को जिताने की अपील की।

शुक्रवार, 2 अप्रैल 2021

सभी लोगों को कोरोना वैक्सीन लगाने का काम शुरू

चेन्नई। गुरुवार से देश में 1 जनवरी, 1977 तक पैदा हुए सभी लोगों को कोविड-19 वैक्सीन लगाने का काम शुरू हो गया है। देश में बुधवार तक कुल 6.4 करोड़ लोगों को वैक्सीन की डोज पड़ चुकी थी। लेकिन, ये वो लोग थे। जो हेल्थ वर्कर हैं या फिर जिनकी उम्र 60 साल से ज्यादा है। या फिर 45 साल से 60 साल के बीच के उन लोगों को टीका लगाया गया है, जो किसी न किसी रोग से पीड़ित हैं। लेकिन, गुरुवार से 45 साल ऊपर के हर नागरिक को टीका पड़ने का रास्ता साफ हो जाने के बाद, कई लोगों के मन में यह सवाल ज्यादा उठ रहे हैं कि वैक्सीन के बाद उन्हें खाने-पीने में किन चीजों से परहेज करनी पड़ सकती है। मसलन, जो शराब पीते हैं या स्मोकिंग करते हैं या फिर नॉन-वेज खानों के शौकीन हैं, उन्हें कुछ दिनों तक इन सब चीजों से परहेज तो नहीं करना पड़ेगा ?

बिना वैज्ञानिक आधार पर किए जा रहे हैं दावे

एक रिपोर्ट आई है, जिसमें वैक्सीन को लेकर लोगों के मन में उठ रहे इन सवालों के जवाब तलाशने की कोशिश की गई है। क्योंकि, इसको लेकर कुछ लोगों के मन में गलतफहमियां भी देखी गई हैं। मसलन, तमिलनाडु के चेंगालपट्टु के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में टीके का पहला डोज लगवाने वाले 60 वर्षीय किसान राजेंद्रण ने कहा कि उन्हें सेंटर पर सलाह दी गई कि दूसरी डोज से एक हफ्ते पहले शराब ना पीएं। उन्होंने कहा कि,'मुझसे कहा गया कि अगर मैं शराब पीऊंगा तो वैक्सीन काम नहीं करेगी।' इसी तरह चेन्नई के कल्याण में एक पत्रकार ने दावा किया कि नर्स ने उससे कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद 48 घंटे तक उन्हें शराब पीने, स्मोकिंग करने या मीट खाने से बचना चाहिए। जबकि, एक बड़े प्राइवेट अस्पताल में उनके दोस्त को सलाह दी गई कि उन्हे एक हफ्ते तक शराब या 'नॉन-वेज खाने' से बचना चाहिए। सवाल है कि क्या ये दावे तथ्यों और किसी शोध पर आधारित हैं ?

सरकार की ओर से नहीं दी गई है ऐसी कोई सलाह

सबसे बड़ी बात है कि वैक्सीन को लेकर सरकार की ओर से अभी तक खाने-पीने पर किसी तरह की पाबंदी की सलाह नहीं दी गई है। तमिलनाडु के स्वास्थ्य सचिव जे राधाकृष्णन के मुताबिक, 'ऐसा कोई प्रमाणिक वैज्ञानिक अध्ययन नहीं हुआ है, जिसमें बताया गया हो कि नॉन-वेज खाना वैक्सीन को बेअसर बना देता है। इसलिए लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए मीट खाना छोड़ने की जरूरत नहीं है।' इसी तरह से ऐसा कोई वैज्ञानिक अध्ययन उपलब्ध नहीं है कि शराब पीने या स्मोकिंग से वैक्सीनेशन पर कोई असर पड़ता है।

डॉक्टर क्या दे रहे हैं सलाह ?

हालांकि, इसका मतलब ये भी नहीं है कि लोगों को कोरोना का टीका लगवाने के बाद उसकी खुशी में शराब के जाम छलकाने की सलाह दी जाए। इसकी वजह ये है कि टीकाकरण के बाद अक्सर लोगों को नॉर्मल फ्लू या बुखार, ठंड लगना, सिरदर्द और उल्टी जैसे लक्षण दिखाई देने की आशंका रहती है। ऐसे में शराब पीने पर तबीयत ज्यादा बिगड़ सकती है। सीनियर एपिडमियोलॉजिस्ट और कोविड-19 के खिलाफ प्रदेश के स्पेशल टास्क फोर्स के सदस्य डॉक्टर पी कुगानांथम के मुताबिक, 'शराब से शरीर के इम्यून सिस्टम पर विपरीत असर पड़ता है और ज्यादा शराब पीने से हो सकता है कि वैक्सीन उतनी अच्छी तरह से काम ना करे।' उन्होंने सलाह दी है कि 'अगर कोई व्यक्ति वैक्सीन लगवाने से एक हफ्ते पहले और बाद में ड्रिंकिंग और स्मोकिंग ना करे तो वह ज्यादा अच्छा महसूस कर सकता है।'

इन बातों का एहतियात रखना बहुत जरूरी

स्मोकिंग के साथ भी वही बात है। इससे इम्यून सिस्टम प्रभावित होता है और इसीलिए यह वैक्सीन के प्रभाव को घटा सकता है। हालांकि, इसको लेकर कोई वैज्ञानिक रिसर्च उपलब्ध नहीं है, लेकिन यह भी कहा जाता रहा है कि स्मोकिंग करने वालों के लिए कोविड-19 का संक्रमण ज्यादा नुकसानदेह साबित हो सकता है। डॉक्टर कुगानांथम के मुताबिक वैज्ञानिक तौर पर वैक्सीन लेने से पहले और बाद में कुछ एहतियात जरूर लेनी चाहिए। उनका कहना है कि , 'जो लोग स्टेरॉयड और ब्लड थिनर पर हैं, उन्हें ज्यादा साइड-इफेक्ट से बचने के लिए टीका लगाने से दो दिन पहले और बाद में ऐसी दवाइयां लेने से बचना चाहिए। किसी को अगर वैक्सीन से पहले ज्यादा आघात पहुंच चुका है तो उन्हें डॉक्टरों को यह बात बता देनी चाहिए और ज्यादा सावधान रहना चाहिए।' उन्होंने कहा है कि वैक्सीन लगाने के बाद सबसे ज्यादा जरूरी ये है कि मास्क पहनते रहिए, सोशल डिस्टेंसिंग का पहले की तरह पालन कीजिए,सतहों को छूने से बचिए और हैंड हाइजीन का ख्याल रखिए।

सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...