रविवार, 8 सितंबर 2019

लोकतंत्र-लोकतंत्र का चौथा स्‍तंभ खतरे मे

पत्रकारों पर हमले के लिए सजा देने में फिसड्डी है भारत


लोकतंत्र का चौथा स्तंभ खतरे मे


हम शुरू करते हैं भारत की वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश और शुजात बुखारी  की इनके अलावा कई इनके जैसे पत्रकारों की हत्या का मामला अभी सुलझा भी नहीं था कि इसमें एक और नाम जुड़ गया। दंतेवाड़ा में हुए नक्सली हमले में डीडी न्यूज के कैमरामैन अच्युतानंद साहू की मौत हो गई।
क्या भारत पत्रकारों के लिए असुरक्षित देश बन गया है? जिस तरह से पत्रकारों पर हमले बढ़ रहे हैं ऐसा ही लगता है। आंकड़े भी यही बताते लगते हैं। पत्रकार संगठन कमिटी टु प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) ने ग्लोबल इम्प्यूनिटी इंडेक्स जारी किया है, जिसमें उन देशों को शामिल किया जाता है जहां पत्रकारों की हमलों के लिए अपराधियों को सजा नहीं मिलती। इस सूची में भारत 14वें नंबर पर है। यह सूची ऐसे समय में आई है जब सऊदी अरब के कंसुलेट में पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या पर बवाल मचा है और अमेरिकी चैनल सीएनएन में पाइप बम भेजे जाने से सनसनी फैली हुई है।


सूचकांक बनाने के लिए सीपीजे ने सितंबर 2008 से अगस्त 2018 के बीच दुनिया भर में पत्रकारों की हत्या के मामलों का अध्ययन किया। भारत की बात करें तो इस एक दशक में पत्रकारों की हत्या के 18 मामले ऐसे हैं, जो सुलझ नहीं पाए हैं। सबसे बुरी हालत सोमालिया में है। इसके बाद नंबर सीरिया, इराक, पाकिस्तान और बांग्लादेश का आता है।
सीपीजे के मुताबिक, ''अध्ययन से मालूम चला है कि पत्रकारों के काम की वजह से उन पर जानबूझकर हमले किए गए.'' सीपीजे की 11वीं रिपोर्ट के अनुसार पिछले एक दशक में दुनिया भर के कम से कम 324 पत्रकारों की आवाज दबाने के लिए उनकी हत्या कर दी गई और इनमें से करीब 85 प्रतिशत मामलों में अपराधियों को सजा नहीं दी गई है। 
भारत की हालत दयनीय  
सीपीजे की सूची में भारत 11 बार आ चुका है. 2017 में भारत का 12वां स्थान था। 2017 की रिपोर्ट में सीपीजे ने लिखा था कि 90 के शुरुआती दशक से भारत में 27 पत्रकारों को मार डाला गया। यही नहीं, तत्कालीन रिपोर्ट के अनुसार, भारत ने यूनेस्को के जवाबदेही तंत्र में हिस्सा लेने से भी इनकार कर दिया, जो मारे गए पत्रकारों के मामलों की जांच की स्थिति पर जानकारी मांगता है। हालत यह है कि पिछले दो वर्षों में भारत की गिनती उन देशों में होने लगी है, जहां पत्रकारों की सबसे ज्यादा हत्या हुई है। 2016 में इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ जर्नलिस्ट ने पत्रकारों के लिए सबसे खतरनाक देशों में भारत को आठवें नंबर पर रखा था।
इस मुद्दे पर आजतक ऑनलाइन के संपादक पाणिनि आनंद ने डॉयचे वेले से कहा, ''भारत में पत्रकारों की हत्या के लिए मीडिया संस्थानों की ट्रेनिंग में कमी भी जिम्मेदार है। हम संवेदनशील इलाकों में रिपोर्टिंग के लिए पत्रकारों को शारीरिक और मानसिक तौर पर तैयार नहीं करते हैं। ऐसा अंतरराष्ट्रीय स्तर के संस्थानों में नहीं होता है और अगर हमला या हत्या होती है तो उसे जोरशोर से उठाया जाता है। भारतीय मीडिया संस्थानों में ऐसा नहीं है।


इन पत्रकारों की हुई हत्या    
2018 में भारत में कई पत्रकारों की हत्या हुई जिसमें 'राइजिंग कश्मीर' अखबार के संपादक और डॉयचे वेले से लंबे समय तक जुड़े रहे शुजात बुखारी का नाम शामिल है। जून 2018 में जब बुखारी अपने श्रीनगर स्थित दफ्तर से निकले तो उन पर अज्ञात लोगों ने हमला किया। वहीं मार्च में तीन पत्रकारों को सड़क दुर्घटनाओं में मारने का आरोप लगा। इनमें रेत माफियाओं पर रिपोर्टिंग कर रहे मध्य प्रदेश के संदीप शर्मा का नाम शामिल है। इसी तरह बिहार में नवीन निश्चल और विजय सिंह की भी हत्या कर दी गई।
2017 में वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या ने मीडिया जगत को हिला कर रख दिया था। एक कन्नड़ अखबार की संपादक और हिंदू चरमपंथियों के खिलाफ मुखर लंकेश को उनके घर के बाहर ही गोलियां मारी गईं। ऐसा ही रेप के दोषी बाबाओं गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां और आसाराम के खिलाफ रिपोर्टिंग करने वाले पत्रकारों के साथ हुआ। पाणिनी आनंद के मुताबिक, ''स्थानीय अखबारों में पत्रकारों की स्थिति दयनीय है। वे अगर चरमपंथियों या प्रभावशाली लोगों के खिलाफ रिपोर्टिंग करें तो उन्हें यातना दी जाती है और कई बार तो मार दिया जाता है। ऐसे में पत्रकार तो हमेशा डरा रहेगा।    
मौत पर चुप्पी खतरनाक
पत्रकारों की हत्या पर चुप्पी खतरनाक है। भारत के संदर्भ में पाणिनी आनंद कहते हैं, ''कुछ भारतीय मीडिया संस्थानों को छोड़कर पत्रकारों पर हमले या उनकी हत्या का मुद्दा वैसे नहीं उठाया जाता, जैसा होना चाहिए। कई बार अखबार इसे सिंगल कॉलम में समेटकर रख देते हैं और बात आई-गई हो जाती है. भारत में पत्रकारों को खुद जागरूक होने की जरूरत है''।
पाकिस्तान में भी पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर सवाल उठते रहे हैं और वहां भी भारत की तरह पिछले एक दशक में पत्रकारों की हत्या के 18 ऐसे मामले सामने हैं, जिन्हें सुलझाया नहीं जा सका है। सीपीजे की सूची में पाकिस्तान का नौवां नंबर है।


विवादित चेहरों की जो आवाज बना

गुनाहों का देवता: वो वकील जो विवादित मामलों और चेहरों की आवाज़ बना


●जेठमलानी ने की कई हाई प्रोफाइल केसों में पैरवी
●राम जेठमलानी ने 2017 में लिया था वकालत से संन्यास
●लालू यादव, राजीव गांधी और इंदिरा गांधी से जुड़े केस लड़े


भारतीय कानून के इतिहास में जब भी प्रमुख वकीलों का नाम लिया जाएगा राम जेठमलानी के बिना यह चर्चा अधूरी रहेगी. लंबी बीमारी के बाद 95 साल की उम्र में रविवार को उनका निधन हो गया। जेठमलानी ने 17 साल में लॉ की पढ़ाई पूरी कर ली थी और 18 साल की उम्र से वकालत शुरू कर दी थी। वकालत के प्रति उनका जो जुनून था वह उन्हें ऊंचाइयों पर ले गया। उन्हें विवादित मुद्दों को हाथ में लेने में मजा आता था। जब देश कुछ और सोच रहा हो उसके खिलाफ जाना जेठमलानी के बस की ही बात थी। उन्होंने कई ऐसे लोगों को फांसी के फंदे से बचा लिया जिन्हें आरोपी माना गया था।


राम जेठमलानी ने राजीव गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के आरोपियों से लेकर चारा घोटाला मामले में आरोपी लालू प्रसाद यादव तक का केस लड़ा था। जेठमलानी इंदिरा गांधी की हत्या के दोषी केहर सिंह और सतवंत सिंह और राजीव गांधी की हत्या के मामले में दोषी मुरुगन के बचाव में कोर्ट में पेश हुए थे।


दरअसल, 1984 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्‍या के बाद जब कोई भी वकील हत्‍यारे सतवंत सिंह और केहर सिंह के लिए पैरवी करने के लिए तैयार नहीं था। तब राम जेठमलानी ने हिम्‍मत दिखाते हुए उनका केस लड़ने का फैसला लिया था।


पोस्टमार्टम रिपोर्ट को चुनौती


पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारों सतवंत सिंह और केहर सिंह के वकील के तौर पर पेश हुए जेठमलानी ने एम्स के डॉक्टर और इंदिरा गांधी के शव का पोस्टमार्टम करने वाले टीडी डोगरा द्वारा दी गई मेडिकल रिपोर्ट को भी चैलेंज किया था. इस केस को लड़ने की वजह से जेठमलानी की आलोचना भी हुई थी।


वहीं संसद पर हमले के आरोपी कश्मीरी आतंकी अफजल गुरु के मामले में भी जेठमलानी ने पैरवी की थी। हालांकि अदालत ने फांसी की सजा को बरकरार रखा और 9 फरवरी 2013 को दिल्‍ली के तिहाड़ जेल में फांसी दे दी गई। दिल्ली के बेहद चर्चित जेसिका लाल हत्याकांड मामले में वह अभियुक्त मनु शर्मा के वकील थे। हालांकि इस केस में उन्हें सफलता नहीं मिली और साल 2010 में कोर्ट ने मनु शर्मा की उम्रकैद की सजा को बरकरार रखा था।


अमित शाह के वकील रहे


इसके अलावा जेठमलानी ने यूपीए सरकार के सबसे चर्चित घोटाले 2 जी स्कैम में आरोपी और डीएमके नेता करूणानिधि की बेटी कनिमोझी के बचाव में पैरवी की थी। वहीं सोहराबुद्दीन एनकाउंटर मामले में उन्होंने अमित शाह की तरफ से केस लड़ा था। जेठमलानी ने माफिया डॉन हाजी मस्तान पर तस्करी से जुड़े मामले में पैरवी की थी। वहीं उपहार सिनेमा अग्निकांड में आरोपी मालिकों अंसल बंधुओं की तरफ से भी पेश हुए थे।जून 2011 में रामलीला मैदान में धरना दे रहे बाबा रामदेव पर सेना के प्रयोग के लिए बाबा के बचाव में जेठमलानी कोर्ट में पेश हुए थे।


जयललिता और आडवाणी भी क्लाइंट


कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के लिए अवैध खनन मामले में पेश हुए थे। वाईएस जगनमोहन रेड्डी के लिए मनी लांड्रिंग के मामले में भी पैरवी की थी। आय से अधिक संपत्ति मामले में वो तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के वकील थे तो वहीं हवाला कांड में राम जेठमलानी वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी के वकील थे।


जेठमलानी ने जो प्रमुख केस लड़े उनमें पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के हत्यारे सतवंत सिंह, आतंकी अफजल गुरु, जेसिका लाल मर्डर केस, 2 जी स्कैम, आय से अधिक संपत्ति के मामले, सोहराबुद्दीन एनकाउंटर, चारा घोटाला जैसे बड़े केस शामिल हैं। बता दें कि जेठमलानी ने लंबे करियर के बाद 2017 में संन्यास लेने का फैसला किया था। उन्होंने संन्यास लेने की घोषणा करते हुए कहा था कि वह भ्रष्ट राजनेताओं के खिलाफ लड़ाई जारी रखेंगे।


चुनाव से पहले ठाकरे का बड़ा ऐलान

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले उद्धव ठाकरे का बड़ा ऐलान


महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले उद्धव ठाकरे का बड़ा ऐलान


मुबंई। महाराष्ट्र में जल्द होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को लेकर महत्वपूर्ण बयान दिया है। उद्धव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उपस्थिति में, दोनों दलों का गठबंधन “अटल” है। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि यह गठबंधन एक बार फिर से सत्ता में वापसी करेगा।


कार्यक्रम में अपने संबोधन के दौरान ठाकरे ने अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री की सराहना की। शिवेसना प्रमुख ने इसके साथ ही अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने और समान नागरिक संहिता लाने की अपील की।


ठाकरे ने कहा, “प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को नेतृत्व और दिशा प्रदान की है जिसमें प्रगति और विकास करने की अपार क्षमता है। संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को समाप्त करने और चंद्रयान-2 अभियान के लिए मैं मोदी को बधाई देता हूं। अब राष्ट्र अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण और समान नागरिक संहिता का इंतजार कर रहा है।” उन्होंने कहा, “कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और रहेगा। मोदी ने इसे न केवल शब्दों में बल्कि वास्तविकता में सिद्ध कर दिया है।”


शिवसेना प्रमुख ने कहा कि महत्वाकांक्षी चंद्रमा मिशन की लिए देश को इसरो के वैज्ञानिकों पर भी गर्व है। उन्होंने कहा, “भारत में अपार क्षमता है, और मोदी में, देश को (सही) दिशा देने वाला नेतृत्व मिला है।” ठाकरे ने यह भी कहा कि भारतीय जनता पार्टी के साथ गठबंधन जारी रहेगा।बीजेपी के साथ गठबंधन को लेकर उन्होंने कहा, “गठबंधन अटल है। हम सत्ता चाहते हैं इसमें कोई शंका नहीं है, लेकिन हम ऐसा राज्य के विकास के लिए चाहते हैं। बीजेपी-शिवसेना प्रदेश में चुनावों के बाद एक बार फिर सत्ता में वापस लौटेगी। मुझे इस बात की खुशी है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य की बढ़ती जनसंख्या के लिए सुविधायें मुहैया करा रहे हैं।


आशीर्वाद के लिए 90 विधानसभा का दौरा

रोहतक। हरियाणा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य व नुहं जिला सदस्यता प्रमुख चौ0 ज़ाहिद हुसैन चेयरमैन अपने हजारो समर्थको और कार्यकर्ताओं सहित विश्व के लोकप्रिय नेता माननीय  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ओजस्वी विचार सुनने के लिए रोहतक पहुँचे। प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए जनता के आशीर्वाद के लिए प्रदेश की 90 विधानसभाओ का दौरा किया, जन आशीर्वाद यात्रा के आखरी दिन माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र भाई मोदी भी आशीर्वाद देने रोहतक पहुँचे जहाँ पर प्रधानमंत्री ने प्रदेश के लाखों लोगो को सम्बोधित किया।नरेंद्र मोदी ने जन सभा को सम्बोधित करने से पहले पुलिस परिसर भोंडसी में 576 मकानों, गुरुग्राम में श्री माता शीतला देवी चिकित्सा महाविद्यालय व रोहतक में हैफेड मेगा फ़ूड पार्क का शिलान्यास किया।
इस अवसर पर ज़ाहिद हुसैन चेयरमैन के नेतृत्व में नुहं हल्के से भी हजारो लोगो ने रोहतक में आयोजित विजय संकल्प रैली में पहुंचकर माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र भाई मोदी के औजस्वी विचार सुने। ज़ाहिद हुसैन ने बताया कि देश प्रदेश में भाजपा सरकार ने रिकॉर्डतोड़ विकास कार्य किये है जिनके बारे में पिछली सरकारे कभी सोच भी नहीं सकती थी तथा सबका साथ सबका विकास की नीति पर चलकर भारतीय जनता पार्टी ने लोगो का दिल जीतने का काम किया है और हरियाणा एक हरियाणवी एक, साफ नियत सही विकास जैसी नीतियों से प्रभावित होकर मेवात की जनता ने प्रदेश के ईमानदार मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल को आशीर्वाद देकर आगमी विस चुनावो में भाजपा का साथ देने का मन बना लिया है जिसके फलस्वरूप आज मेवात की जनता माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विचारों को सुनने के लिए हजारो की संख्या में रोहतक पहुंची। ज़ाहिद हुसैन ने कहा कि इस बार नुहं जिले की तीनों सीटो पर निश्चित तौर पर कमल खिलेगा।ज़ाहिद हुसैन ने रोहतक रैली में पहुंचे मेवात इलाके के सभी लोगो का ह्रदय से स्वागत किया।


आर्बिटर ने भेजी लैंडर विक्रम की तस्वीर

दिल्ली। चंद्रयान-2  को लेकर अभी अभी अच्छी खबर आ रही है। शनिवार की रात लैंडर विक्रम का इसरो  से संपर्क टूट गया था। जिसके बाद ऑर्बिटर ने आज इसरो को लैंडर विक्रम की तस्वीर भेजी है। इसरो की टीम ने एक बार फिर विक्रम से संपर्क साधने में जुट गई है। इसकी जानकारी इसरो ने दी है। इसरो  चीफ का कहना है है हम जल्द ही विक्रम  से संपर्क साध लेंगे। हालांकि, उससे अभी कोई संचार स्थापित नहीं हो पाया है। ये भी खबर है कि विक्रम लैंडर लैंडिंग वाली तय जगह से 500 मीटर दूर पड़ा है ।चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर में लगे ऑप्टिकल हाई रिजोल्यूशन कैमरा ने विक्रम लैंडर की तस्वीर ली है। ज्ञानिक ऑर्बिटर के जरिए विक्रम लैंडर को संदेश भेजने की कोशिश कर रहे हैंडेटा एनालिसिस के बाद पता चलेगा कि विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर कितना काम करेंगे।


अब इसरो वैज्ञानिक ऑर्बिटर के जरिए विक्रम लैंडर को संदेश भेजने की कोशिश कर रहे हैं ताकि, उसका कम्युनिकेशन सिस्टम ऑन किया जा सके। इसरो के विश्वस्त सूत्रों ने बताया कि बेंगलुरु स्थित इसरो सेंटर से लगातार विक्रम लैंडर और ऑर्बिटर को संदेश भेजा जा रहा है ताकि कम्युनिकेशन शुरू किया जा सके। इसरो प्रमुख के सिवन ने बताया कि हमें विक्रम लैंडर के बारे में पता चला है, वह चांद की सतह पर देखा गया है। ऑर्बिटर ने लैंडर की एक थर्मल पिक्चर ली है। लेकिन अभी तक कोई संचार स्थापित नहीं हो पाया है। हम संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं। भविष्य में विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर कितना काम करेंगे, इसका तो डेटा एनालिसिस के बाद ही पता चलेगा।


इसरो वैज्ञानिक अभी यह पता कर रहे हैं कि चांद की सतह से 2.1 किमी ऊंचाई पर विक्रम अपने तय मार्ग से क्यों भटका। इसकी एक वजह ये भी हो सकती है कि विक्रम लैंडर के साइड में लगे छोटे-छोटे 4 स्टीयरिंग इंजनों में से किसी एक ने काम न किया हो। इसकी वजह से विक्रम लैंडर अपने तय मार्ग से डेविएट हो गया। यहीं से सारी समस्या शुरू हुई, इसलिए वैज्ञानिक इसी प्वांइट की स्टडी कर रहे हैं। इसके अलावा चांद के चारों तरफ चक्कर लगा रहे ऑर्बिटर में लगे ऑप्टिकल हाई रिजोल्यूशन कैमरा से विक्रम लैंडर की तस्वीर ली जाएगी। यह कैमरा चांद की सतह पर 0.3 मीटर यानी 1.08 फीट तक की ऊंचाई वाली किसी भी चीज की स्पष्ट तस्वीर ले सकता है।


आकाशीय बिजली की चपेट, दो की मौत

कवर्धा। आकाशीय बिजली की चपेट में आने से दो मासूमों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि घर के आंगन में खेलते वक्त वे आकाशीय बिजली के चपेट में आ गए। उसके बाद इलाज के लिए उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन डॉक्टरों उन्हें मृत घोषित कर दिया। मासूम का नाम निशांत मेरावी और संध्या बताया जा रहा है। मामला रेंगाखार थाना अंतर्गत सरईपतेरा गांव की है।


जानकारी के अनुसार सरईपतेरा गांव में बारिश के दौरान जोरदार बिजली कड़कने लगी, जिसकी चपेट में दो मासूम आ गये। जिस वक्त बिजली कड़की मासूम  घर के आंगन में खेल रहे थे। दोनों बच्चे स्कूल से लौटने के बाद घर में खेल रहे थे। परिजनों ने जैसे ही उन्हें देखा तुरंत एम्बुलेंस से लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोहारा ले गए। जब तक डॉक्टरों ने उन्हें देखा तब तक दोनों बच्चों की मौत हो चुकी थी। 


उधर पिछले कुछ दिनों हो लगातार हो रही मूसलाधर बारिश की वजह से नदी नाले उफान पर है। जिसके चलते जिलों में तो बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। प्रशासन में स्थिति को देखते हुए अलर्ट जारी किया हुआ है। बारिश की वजह से ग्रामीणों अंचलों काफी बुरी स्थिति बनी हुई है।  वनांचल के महली गांव में खेत से काम करके लौट रही एक बुजूर्ग महिला पांचों बाई पैर फिसलने के ​कारण नाले में बह गई। जिसके बाद नाले में बही बुजूर्ग की लाश झाड़ियों में फंसी मिली।


दिल्ली में दिनदहाड़े गैंगवार,एक की मौत

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में दिनदहाड़े गैंगवॉर से दहशत फैल गई। बदमाशों ने वीरेंद्र मान पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाईं। वीरेंद्र को घायल हालत में अस्पताल ले जाया गया। जहां उसकी मौत हो गई।


सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, गैंगवॉर दिल्ली के नरेला में हुई। लामपुर मोड़ पर अज्ञात बदमाशों ने वीरेंद्र मान उर्फ काले पर 25 राउंड ताबड़तोड़ फायरिंग की। जिसमें से 10 से 15 गोलियां काले को लगीं। गंभीर हालत में उसे अस्पताल ले जाया गया। अस्पताल में उसकी मौत हो गई। डीसीपी आउटर नॉर्थ ने बताया कि जो शख्स गैंगवॉर में मारा गया है। वह इलाके का बदमाश था। इस पर करीब 14 मामले दर्ज थे। जानकारी मिली है कि मृतक वीरेंद्र मान उर्फ काले ने नगर निगम का चुनाव भी लड़ चुका था। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है।


सबको डराने वाली पुलिस भूत से डरी

भूत ने उड़ाई पुलिस की नींद


मनोज सिंह ठाकुर 
रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर की पुलिस को भूत ने हलाकान कर रखा है। लोगों का डर दूर भगाने वाली पुलिस खुद भूत-प्रेत से डरी हुई है। यह हम नहीं कह रहे, बल्कि कुछ जवानों का यह दावा है कि पुलिस की एक गाड़ी में भूत-प्रेत का साया है। पुलिसकर्मियों में भूत का खौफ इस कदर समा गया है कि कोई भी जवान इस गाड़ी में बैठने को तैयार नहीं है। पुलिसकर्मी इतने भयभीत हैं कि कोई भी टाइगर-2 (डायल 112) वाहन चलाने के लिए तैयार नहीं है। पुलिसकर्मियों में भूत-प्रेत का ऐसा डर है कि वे अपने साथ नींबू और मिर्च तक लेकर चल रहे हैं।अफसरों के भय से यदि कोई पुलिसकर्मी वाहन चलाता भी है, तो उसकी रात दहशत में कटती है। ऐसे में जवान अपने साथ गाड़ी में नींबू-मिर्च के अलावा पूजा पाठ की सामाग्री भी साथ में रखते हैं।


इस खबर से हमारा मकसद किसी भी प्रकार के अंधविश्वास को बढ़ावा देना नहीं है, बल्कि हम उस हकीकत से आपको रूबरू करा रहे हैं जो इन दिनों रायपुर पुलिस के साथ घटित हो रही है। बता दें कि रायपुर में डायल-112 वाहन द्वारा पुलिस हर किसी को मदद पहुंचाने के लिए तत्पर रहती है, लेकिन आजाद चौक थाना क्षेत्र में चलने वाली डायल-112 गाड़ी में भूत के डर से कोई भी पुलिसवाला बैठने से कतराता है। कुछ जवानों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि इस वाहन में जो भी बैठता है, उसे रात में गाड़ी में किसी अनजान शख्स के होने का आभास होता है।


205 लोगों को सांप ने डसा: बीकानेर

बीकानेर। बारिश के बाद जहां सांप बिलों से बाहर निकल आए हैं वहीं खेतों में किसानों की चहल-पहल भी बढ़ गई। नतीजा आदमी के खलल से नाराज सांपों के गुस्से से पीड़ित लोग हर दिन हॉस्पिटलों में पहुंच रहे हैं। सर्पदंश की चपेट में आ रहे औसतन दो लोगों को हर दिन पीबीएम हॉस्पिटल लाया जा रहा है। गनीमत यह है कि समय रहते हॉस्पिटल पहुंचने या गांवोँ में एंटी स्नैक वीनम की पहली डोज मिल जाने से जान पर खतरा कम हो गया है। सितंबर के पांच दिनों में 11 ऐसे लोगों को पीबीएम हॉस्पिटल में भर्ती करवाया गया है जिनकी सर्पदंश के बाद हालत गंभीर हो गई। इससे पहले अगस्त में 32 लोगों को भर्ती कर इलाज करना पड़ा। जनवरी से अब तक की बात करें तो इस वर्ष अब तक 162 सर्पदंश पीड़ितों को भर्ती किया जा चुका है। इनमें से सर्वाधिक पीड़ित जून से अगस्त के बीच ही रिपोर्ट हुए हैं।


पीबीएम हाॅस्पिटल पहुंचे लोगों सहित पूरे बीकानेर जिले के हॉस्पिटल्स में पहुंचे सर्पदंश पीड़ितों की बात की जाए तो अब तक 205 लोग सांप के चपेट में आकर हॉस्पिटल पहुंचे हैं। सर्पदंश पीड़ितों की तादाद देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने सभी ग्रामीण स्वास्थ्य सेंटर्स पर एंटी स्नैक वीनम की उपलबध्ता सुनिश्चित करने को कहा है। खासतौर पर मेला रूट पर सतर्कता बरती जा रही है।


गणपति विसर्जन में धामा बनी मुख्य अतिथि

रंजीता धामा ने लिया गणपति बप्पा का आशीर्वाद


गाजियाबाद। भारतीय जनता पार्टी की लोनी नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती रंजीता धामा युवा संगठन इन्द्रापुरी के सहयोग से निकाली जा रही गणपति विसर्जन शोभायात्रा मे मुख्य अतिथि के रूप मे पँहुची।
इस अवसर पर युवा संगठन के पदाधिकारीयों के दुारा रंजीता धामा का माला पहनाकर व टीका लगाकर स्वागत किया ।
हवन -पूजन किया गया तत्पश्चात शोभायात्रा शुरू की गयी ।
रंजीता धामा ने गणपति बप्पा के दरबार मे शीश झुकाकर आशीर्वाद लिया। लोनी नगर पालिका अध्यक्ष ने सभी को संबोधित करते हुये कहा कि हमारे नगर पालिका क्षेत्र मे गणपति बप्पा जी की दिन-प्रतिदिन अनेकों जगह पर मूर्ति स्थापित की जा रही है तथा सभी अपनी श्रद्धानुसार गणपति पूजन कर रहे है तथा फिर उनको विसर्जित कर रहे हैं। 
लोनी नगर पालिका भी भक्तों के विसर्जन के लिये सुविधाएं कर रही है। अस्थायी घाटों का निर्माण कराया जा रहा है जँहा पर लोग विसर्जन कर सके ताकि नदियों मे प्रदुषण ना हो ।
रंजीता धामा जी ने सभी से अपील करते हुये कहा कि आप सभी शांति पूर्वक त्यौहार मनाये तथा नगरपालिका के दुारा बनाये गये अस्थायी घाटों पर ही विसर्जन करे ।
रंजीता धामा ने कहा कि युवा संगठन इन्द्रापुरी बेहद ही ऊर्जावान युवाओं का समूह है आप लोग धर्म के प्रति जागरूक रहते हैं। मै आप सभी को धन्यवाद करती हुं कि आप लोग इतने अच्छे से गणपति बप्पा जी की शोभायात्रा निकालते हो। गणपति बप्पा को विघ्न हर्ता भी बोला जाता है। उनकी कामना है कि गणपति महाराज आप सभी के जीवन से सभी मुश्किलों को हर ले ।
आप सभी सदैव इसी प्रकार मिल- जुलकर हर त्यौहार मनाये।
इस अवसर पर भाजपा महिला मोर्चा जिलाध्यक्ष कोमुदी चौधरी, सभासद सुरेन्द्र बैसोया, सुन्दिरयाल, अमर सिंह, रितेश, राकेश सर्वेश, सन्नी सिंह, दिलीप कुमार, मुकेश, कृष्ण कुमार, राहुल रावत, विजय कश्यप सहित सैकड़ों की संख्या मे कालोनीवासी उपस्थित रहे।


आर्बिटर ने थर्मल कैमरे से तस्वीर ली

नई दिल्ली। इसरो को चांद पर विक्रम लैंडर की स्थिति का पता चल गया है ऑर्बिटर ने थर्मल इमेज कैमरा से उसकी तस्वीर ली है। हालांकि, उससे अभी कोई संचार स्थापित नहीं हो पाया है। ये भी खबर है कि विक्रम लैंडर लैंडिंग वाली तय जगह से 500 मीटर दूर पड़ा है। चंद्रयान-2 के ऑर्बिटर में लगे ऑप्टिकल हाई रिजोल्यूशन कैमरा (ओआरसीएच) ने विक्रम लैंडर की तस्वीर ली है।अब इसरो वैज्ञानिक ऑर्बिटर के जरिए विक्रम लैंडर को संदेश भेजने की कोशिश कर रहे हैं ताकि, उसका कम्युनिकेशन सिस्टम ऑन किया जा सके। इसरो के विश्वस्त सूत्रों ने बताया कि बेंगलुरु स्थित इसरो सेंटर से लगातार विक्रम लैंडर और ऑर्बिटर को संदेश भेजा जा रहा है ताकि कम्युनिकेशन शुरू किया जा सके।


भविष्य में विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर कितना काम करेंगे, इसका तो डेटा एनालिसिस के बाद ही पता चलेगा। इसरो वैज्ञानिक अभी यह पता कर रहे हैं कि चांद की सतह से 2.1 किमी ऊंचाई पर विक्रम अपने तय मार्ग से क्यों भटका। इसकी एक वजह ये भी हो सकती है कि विक्रम लैंडर के साइड में लगे छोटे-छोटे 4 स्टीयरिंग इंजनों में से किसी एक ने काम न किया हो। इसकी वजह से विक्रम लैंडर अपने तय मार्ग से डेविएट हो गया। यहीं से सारी समस्या शुरू हुई, इसलिए वैज्ञानिक इसी प्वांइट की स्टडी कर रहे हैं।


इसके अलावा चांद के चारों तरफ चक्कर लगा रहे ऑर्बिटर में लगे ऑप्टिकल हाई रिजोल्यूशन कैमरा (OHRC) से विक्रम लैंडर की तस्वीर ली जाएगी। यह कैमरा चांद की सतह पर 0.3 मीटर यानी 1.08 फीट तक की ऊंचाई वाली किसी भी चीज की स्पष्ट तस्वीर ले सकता है।


कार्तिक को कारण बताओ नोटिस जारी

भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार प्लेयर विकेट कीपर और अनुभवी बल्लेबाज दिनेश कार्तिक को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआई ने नियमों का उल्लंघन करने का हवाला देकर कारण बताओ नोटिस जारी किया है। बताया जा रहा है की वेस्टइंडीज में दिनेश कार्तिक कैरीबियन प्रीमीयर लीग फ्रेंचाइजी त्रिनबागो नाइट राइडर्स के एक प्रमोशनल इवेंट में शामिल हुए थे। ग्रीन बाबू नाइट राइडर बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान की टीम है। बताया जा रहा है की 34 वर्षीय कार्तिक को त्रिनबागो नाइट राइडर्स के ड्रेसिंग रूम में देखा गया और पोर्ट ऑफ स्पेन में सेंट किट्स एंड नेविस के खिलाफ सीपीएल के ओपनिंग मैच भी उन्होंने अटेंड किया।


बीसीसीआई के एक सूत्र ने बताया है कि हां दिनेश कार्तिक को बीसीसीआई के द्वारा एक शो कॉज नोटिस जारी किया गया है। उन्हें कुछ ऐसी तस्वीरें हाथ लगी है जिसमें दिनेश कार्तिक को त्रिनबागो नाइट राइडर्स की ड्रेसिंग रूम में देखा गया है। बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी ने उन्हें यह नोटिस जारी किया है और पूछा है कि उनका केंद्रीय अनुबंध क्यों जारी रखा जाए। बता दे की नेशनल टीम के साथ अनुबंध होने की दशा में किसी भी खिलाड़ी को किसी दूसरे देश की घरेलू क्रिकेट टीम से दूर रहना होता है। वह ना ही उस टीम का हिस्सा हो सकते और ना ही उनके किसी इवेंट में बिना अनुमति शामिल हो सकते। बीसीसीआई इस तरह की गतिविधियों को सीधे-सीधे अनुबंध का उल्लंघन मानता है। इसके लिए उन्हें विशेष अनुमति की जरूरत होती है। बहरहाल दिनेश कार्तिक मुसीबतों में घिरते नजर आ रहे हैं। अगर उन्होंने अपने जवाब से बीसीसीआई को संतुष्ट नहीं किया तो संभवत उनसे अनुबंध तोड़ा जा सकता है और वह शायद ही फिर कभी अंतरराष्ट्रीय मैच के दौरान मैदान में नजर आएं।


हजारों 'नगमे' जो अमर हो गए

खनकती हुई आवाज़ की मलिका आशा भोसले का आज जन्मदिन पर विशेष
शेख नसीम


भोपाल। अपनी मदमस्त और खनकती हुई आवाज़ के ज़रिए करोड़ो लोगो को अपने गीतों से दीवाना बनाने वाली मशहूर प्लेबैक सिंगर आशा भोसले का आज जन्म दिन हैं। गायिका आशा भोसले का जन्म महाराष्ट्र के सांगली में 8 सितंबर 1933 को हुआ था आशाजी के परिवार में पिता दीना नाथ मंगेशकर एक गायक थे इसके अलावा माँ बड़ी बहन लता मंगेशकर,मीना मंगेशकर, उषा मंगेशकर और भाई हृदयनाथ मंगेशकर थे आशाजी को उनके पिता ने बचपन से ही संगीत की शिक्षा दिलाई थी 9 वर्ष की उम्र में ही आशाजी के सरसे पिता का साया उठ गया था और घर का खर्च चलाने की ज़िम्मेदारी लता जी और आशाजी दोनों पर कम उम्र पर ही आ गई थी मंगेशकर परिवार सांगली से मुंबई आ गया जहाँ लता मंगेशकर फिल्मो में गीत गाने के अलावा अभिनय करने लगी थी। आशा भोसले को फिल्मी दुनिया मे पहला ब्रेक 1948 में फ़िल्म चुनरिया के गीत सावन आया से मिला। शुरू में आशाजी को बी ग्रेड और सी ग्रेड फिल्मो के गीत ही गाने को मिलते थे ए ग्रेड फिल्मो के गाने उनकी बड़ी बहन लता मंगेशकर गाती थी लेकिन 1957 की फ़िल्म नया दौर आशाजी के फिल्मी कैरियर में एक नया दौर लेकर आई जिसके सभी गाने ज़बरदस्त हिट हुए रफी साहब के साथ गए उनके गीत हर एक संगीत प्रेमियों की ज़बान पर थे चाहे वो मांग के साथ तुम्हारा हो या उड़े जब जब जुल्फे तेरी हो या साथी हाथ बढ़ाना हो इन गीतों की मधुरता और लोकप्रियता ने आशा भोसले को लता मंगेशकर का सबसे बड़ा प्रतिद्वंदी बना दिया था नया दौर निर्देशक बी आर चौपड़ा की पहली फ़िल्म थी जिसके नायक थे महान अभिनेता दिलीप कुमार।


इसके बाद आशा जी बीआर चोपड़ा की हर फिल्म में गीत गाने वाली स्थाई गायिका बन गई थी धूल का फूल,वक्त,हमराज,आदमी और इंसान,द बर्निंग ट्रेन,तवायफ आदि फिल्मो में आशाजी के गाए हुए नगमों ने भारतीय सिने जगत में धूम मचा दी थी। संगीतकार ओ पी नैयर ने आशा जी की आवाज़ का बेहतरीन उपयोग करते हुए आशाजी को एक अलग ही स्टाइल दिया था बाद में संगीतकार आरडी बर्मन ने भी आशाजी की आवाज़ का बहुत ही सुंदर तरीके से इस्तेमाल करके एक अलग ही पहचान दी। ओ पी नैयर के साथ आशाजी ने नया दौर, एक मुसाफिर एक हसीना,तुमसा नही देखा,कश्मीर की कली,हमसाया,आदि फिल्मो के गीतों में एक अल्हड़पन भरे नगमे जिन्होंने भारतीय संगीत प्रेमियों को उदासियों से निकाल कर संगीत के समंदर में गोते लगाने को मजबूर कर दिया था


*आशा भोसले को मिले अवार्ड।* आशा भोसले ने अपने जीवन मे करीब 16000 से ज्यादा गीत गाए इनमे हिंदी के अलावा मराठी,गुजराती,तमिल,मलयालम,भोजपुरी,पंजाबी,अंग्रेजी और रूसी ज़बान में गाए गीत शामिल हैं आशाजी को 7 बार सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म फेयर अवार्ड से नवाजा गया था। पहला फ़िल्म फेयर अवार्ड 1968 में आई फ़िल्म दस लाख के गीत,गरीबो की सुनो वो तुम्हारी सुनेगा के लिए मिला था
दूसरा फ़िल्म शिकार के गीत पर्दे में रहने दो पर्दा न उठाओ के लिए मिला था जो 1969 में रिलीज हुई थी तीसरा अवार्ड 1972 में आई फ़िल्म कारवाँ के गीत पिया तू अब तो आजा के लिए मिला था चौथा अवार्ड फ़िल्म हरे रामा हरे कृष्णा के गीत दम मारो दम के लिए मिला था जो 1973 में आई थी पांचवा अवार्ड 1974 में आई फ़िल्म नैना के गीत होने लगी हैं रात के लिए मिला था छठा फ़िल्म फेयर अवार्ड 1975 में आई फ़िल्म प्राण जाए पर वचन न जाए के गीत चेन से हमको कभी के लिए मिला था आखरी और कुल सातवाँ फ़िल्म फेयर अवार्ड 1979 में आई चर्चित फिल्म डॉन के गीत ये मेरा दिल प्यार का दीवाना के लिए मिला था इसके अलावा आशा भोसले को दो बार राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका हैं ये फिल्में थी उमराव जान और इजाजत।
1981 में रेखा अभिनीत फिल्म के ग़ज़लों ने तो जैसे तहलका ही मचा दिया था ख़य्याम के संगीत से सजी गज़ले और गीतों ने तो आशा जी के फिल्मी कैरियर में चार चांद लगा दिए थे दिल चीज़ क्या हैं आप मेरी जान लीजिए के लिए आशाजी को पहला नेशनल अवार्ड दिया गया था इसके अलावा फिल्म इजाज़त के गीत मेरा कुछ सामान तुम्हारे पास के लिए दूसरा राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया था 1989 में मध्य प्रदेश सरकार ने राष्ट्रीय लता मंगेशकर अवार्ड आशा भोसले को उनके गए गीतों के लिए प्रदान किया था 1999 में महाराष्ट्र सरकार ने भी लता मंगेशकर अवार्ड आशाजी को दिया था 2001 में आशाजी को उनके योगदान के लिए फ़िल्म फेयर लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से नवाजा था। आशा भोसले को इतना आदर,सम्मान प्रसिध्दि,शोहरत,पैसा मिलने के बाद भी आशा जी ने कभी घमंड नही किया और आज भी उनके गए मधुर और मदमस्त गीत एक अलग ही मस्तिक में ऊर्जा का संचार करते हैं आशा जी आज 86 वर्ष की हो गई हैं गाना कम कर दिया हैं लेकिन आज भी रियलिटी शो में बतौर जज नज़र आती रहती हैं। आशा जी ने अपने फिल्मी कैरियर में हर बड़े संगीतकार और गायको के साथ काम किया हैं। जैसे की ओपी नैयर,ख़य्याम,लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल,कल्याणजी-आनंजी,नोशाद,शंकर-जयकिशन,आरडी बर्मन, एसडी बर्मन,रवि,ऐ आर रहमान आदि संगीतकारों के साथ मिलकर एक से बढ़ कर एक नायाब नगमे भारतीय संगीत को दिए।


*आशा भोसले के गाए कुछ यादगार गीत।* 
वो हसीन दर्द दे दो जिसे में गले
मांग के साथ तुम्हारा
हम तेरे बिन जी न सकेंगे सनम
जाइये आप कहा जाएंगे
उड़े जब जब जुल्फे तेरी
जब चली ठंडी हवा
कौन आया की निग़ाहों में चमक
आगे भी जाने न तू
दिन हैं बहार के तेरे मेरे इकरार के
नील गगन पर उड़ते बादल आ
खत लिख दे साँवरिया के नाम
पिया तू अब तो आजा
ओ मेरे सोना रे
ओ हसीना जुल्फों वाली
आजा आजा में हूँ प्यार तेरा
इन आँखों की मस्ती के मस्ताने
दिल चीज़ क्या हैं 
याही रे याही रे जोर लगाके
ज़रा सा झूम लू में
मेरा सनम सबसे प्यारा हैं
अगर ज़िन्दगी हो तेरे संग हो
हम लाख छुपाए प्यार मगर
मिलने की तुम कोशिश करना
प्यार हमारा अमर रहेगा
ये मेरा दिल प्यार का दीवाना
और जवानी जानेमन हसीन दिलरुबा जैसे कई हज़ारो नगमे हैं जो आशाजी की आवाज़ पाकर अमर हो गए। आज आशाजी के जन्म दिन पर हम ईश्वर से उनके स्वस्थ और उज्ज्वल जीवन की कामना करते हैं और आशाजी ऐसे सदैव ही हँसती ,मुस्कुराती रहे और आगे भी अपनी आवाज़ के ज़रिए अपने गीतों की मिठास घोलती रहे।


शरीर के मूल बीज का घटक 'धातु'

धातु' शब्द सभी शास्त्रों में अत्यंत महत्त्वपूर्ण है। धातु शब्द की व्युत्पत्ति 'धा' धातु में 'तुन्' प्रत्यय लगाने से हुआ है। व्याकरण में 'धातु' का अर्थ है - 'जिससे शब्द निष्पन्न होता है'। महर्षि पाणिनि ने लगभग दो हजार धतुओं का उल्लेख किया है। भाषा का मूल बीज 'धातु' है। आयुर्वेद में वात-पित्त-कफ को 'धातु' कहा गया है, जिससे समस्त जीव-शरीर का निर्माण हुआ है। आयुर्वेद में प्रयुक्त धतु को देखा नहीं जा सकता, परन्तु इनमें से किसी एक में भी विकार होते ही उसे हम अनुभव करते हैं। मनुष्य के शरीर मे 'ओज' को 'धातु' की संज्ञा दी गई है। यह शरीर के मूल बीज का घटक है जिन्हें हम सत्त्व-रज-तम भी कहते हैं। इन्हें भी नहीं देखा जा सकता परन्तु आचरण आदि में किसी एक गुण का विकास होता है इसी प्रकार वीणा की वादन क्रिया में प्रयुक्त समस्त युक्तियों का सार 'धातु' है। प्रबन्ध के अवयव को भी धातु कहा गया है।


शास्त्रीय संगीत के सन्दर्भ में 'धातु' विभिन्न विशेष अर्थों में प्रयुक्त हुआ है जैसे प्रबन्ध का अवयव धातु, विविध वादनों में प्रयुक्त धातु, वाग्गेयकार के संदर्भ में धातु, वाचिक अभिनय के संदर्भ में धातु आदि।


धातु शब्द 'धा' में 'तुन्' प्रत्यय जोड़ने से बना है। यह शब्द कई अर्थों में प्रयुक्त होता है-


धातु (खनिज): आधुनिक रसायन विज्ञान की परिभाषा के अनुसार धातु उस खनिज पदार्थ को कहते हैं जो चमकीला तो हो, परन्तु पारदर्शी न हो, जिसमें ताप, विद्युत आदि का संचार होता हो, जो कूटने, खींचने पीटने आदि पर बढ़ सके अर्थात् जिसके तार और पत्तर बन सके। खानों में ये धातुएँ अपने विशुद्ध रूप में नहीं निकलती, बल्कि उनमें अनेक दूसरे तत्त्व भी मिले रहते हैं। उन मिश्रित रूपों को साफ करने पर धातुएँ अपने बिलकुल शुद्ध रूप में आती हैं।
धातु (आयुर्वेद) : शरीर को धारण करने या बनाये रखनेवाले तत्त्व जिनकी संख्या वैद्यक में ७ कही गई है। यथा—रस, रक्त, मांस, भेद, अस्थि, मज्जा और शुक्र। कहा गया है कि जो कुछ हम खाते-पीते हैं, उन सबसे क्रमात् उक्त सात धातुएँ बनती हैं, जिनसे हमारा शरीर बनता है।
धातु (संस्कृत के क्रिया शब्द) : संस्कृत व्याकरण में, क्रियाओं के वे मूल रूप जिससे उनके भिन्न-भिन्न विकारी रूप बनते हैं। जैसे — अस्, कृ, घृ, भू आदि।
इसके अतिरिक्त स्तूप को भी धातु कहते हैं। गौतम बुद्ध अथवा अन्य बौद्ध महापुरुषों की अस्थियाँ भी 'धातु' कहलाती हैं जिनको उनके अनुयायी डिब्बों में बन्द करके स्मारक रूप में स्थापित करते थे।


यमाचार्य नचिकेता वार्ता (धर्मवाद)

गतांक से...
मेरे प्यारे, मुझे वह काल स्‍मरण आता रहता है कि जब मेरी प्यारी माता अनुसंधान करती रहती है। मुझे वह काल स्मारण है। जब वह मेरी प्यारी माता यज्ञ कर रही है। और जब वह करती है तो उसका यह कैसा भाव है। उसका कोई व्रत करने वाला हो, अनुसंधान करने वाला हो, तो ब्रह्म लोक को प्राप्त हो जाती है। मेरी प्यारी मां, हे मां, तू वास्तव में जीवन को उदबुध करने वाली है। प्रकाश मे ले जाने वाली, ममत्व को धारण करती हुई। तू शरीर की अग्नि को उद्धत करने वाली है वही अग्नि उदबध हो करके अमृत में प्रवेश हो जाती है। अमृत में उसका परिवर्तन हो जाता है। वह माता का कितना व्यापक धर्म है और उस धर्म को जो अपना लेता है। वह कर्तव्यवाद की विधि पर विराजमान हो करके अपने जीवन को उधरवा गती में ले जाता है, महान बना लेता है। आज मनियरो देखो विशाल या विशेष चर्चा तुम्हें प्रकट करने नहीं आया हूं ।आज हम संस्कृतिक परिचय देने आए हैं और वह परिचय क्या है कि वैदिक ऋषियों ने नाना रूपों में इस संसार की कल्पना की है। इस संसार को याज्ञिक पुरुषों ने यज्ञ में ही माना है। परंतु देखो यज्ञ में जिस भी वाक को लेना प्रारंभ करोगे वही वाक अनंत में तुम्हें दृष्टिपात आता रहेगा। प्रत्येक मानव विज्ञान के युग में प्रवेश करना चाहता है। वैज्ञानिक बनना चाहता है मेरे प्यारे महानंद जी मुझे नाना प्रकार की प्रेरणा देते रहते हैं। परमाणु वाद की विचारधारा पर ले जाना चाहते हैं। परंतु आज से हमने बहुत पुरातन काल में निर्णय देते हुए कहा था कि संसार में मानव को अपने जीवन में शक्ति को उत्पन्न करना है। वह शक्ति जो अभ्यास गति बनकर ओजस्वी-वर्षोंचोसी  बनकर के मानव जीवन को महान बना देता है अर्थात पवित्र बना देता है। जिस पवित्रता का स्वरूप मानवीय जीवन में एक आभा बन करके रहता है अथवा विचित्र बनके रहता है। आज मैं तुम्हें एक ऋषि के आश्रम में ले जाना चाहता हूं। एक समय का वाक है ।मुनिवर, देखो ऋषि ब्रेनकेतु महाराज थे। ब्रेनकेतु महाराज जो दद्दड गौत्रीय कहलाते थे। परंतु देखो उनका जो संस्कार हुआ वह शांडिल्य गोत्र में हुआ। उनका संस्कार जब शांडिल्य गोत्र में हुआ तो वह नित्य प्रति यज्ञ करते थे। कैसा यज्ञ करते थे। मुनिमरो, लाना साकल्‍य भयंकर वनों से एकत्रित करते रहते और यज्ञ करते रहते थे। वह विश्व ब्रह्मांड को इस वायुमंडल को पवित्र बनाते रहते थे। यह कहा करते थे कि सुगंधी देना ही हमारा कर्तव्य सुगंधी में लाना ही हमारा कर्तव्य है। इसलिए संसार में प्रत्येक मानव को सुगंधी को लाना है। वह सुगंधी यज्ञ के द्वारा आती है। वह विचारों के द्वारा आती है। राष्ट्र के द्वारा भी आती है। जिसमें मुनि वह सुगंधी होती रहती है और सुगंधी कैसी होती रहती है। मैंने बहुत पुरातन काल में तुम्हें निर्णय देते हुए देखा था कि वह राजा सुगंधी सुगंधी की स्थापना करता है। जिस राजा का जीवन चरित्र होता है चरित्र जीवन होता है। पांडित्य को लेकर के अपने राष्ट्र को ऊंचा बनाता है मुझे स्‍मरण आता रहता है। जब महाराज जानवी अपने आसन पर विद्यमान है। परंतु देखो ब्राह्मण समाज यह उच्चारण करता है ।चलो राजा जानवी महाराज जानवी के आश्रम को जाना है। वेद के जिज्ञासु राजा जानवी के द्वार पर पहुंचते हैं। जानवी राजा मनु वंश में उत्पन्न हुआ। महाराज जानवी के उस समय जब नाना ब्राह्मण पहुंचे तो ब्राह्मणों ने विचारा ऋषियो ने की हम इसको मन ही मन में प्रणाम कर लेते हैं। हम मन ही मन में नमस्कार कर लेते हैं। परंतु जब तक हमें यह प्रतीत न हो कि यह राजा ब्रह्मज्ञानी है अथवा नहीं है। तो उनमें से एक ब्राह्मण की चुनौती हुई। ब्राह्मण को निर्वासत किया और यह कहा कि तुम इस राजा के राजा से यह प्रश्न करो और राजा इसका क्या उत्तर देगा और उसके मस्तिष्क को दृष्टिपात करो। वह ब्रह्म ज्ञानी ब्रह्मवेता है या नहीं। मुनिवरो, कहा जाता है कि उनमें से महाराजा वरुण ने, ॠषि वरूण ने ऋषि गौतम के पिता ने महाराज जानवी के मस्तिष्क को दृष्टिपात करके यह कहा कि महाराज तुम जो प्रातकाल यज्ञ करते हो। वह कितनी समिधा से करते हो? मुनिवर देखो, उस समय महाराज जानवी कहते हैं कि जो यज्ञ प्रातः काल में तीन प्रकार की समिधा थी। मैं 3 संमिधाओ में मैं यज्ञ करता हूं। वह 3 समिधा क्या है। महाराज जानवी कहते हैं कि तीन जो समिधा है वह 3 समिधाए जिसमें अग्नि अग्‍न्‍याधान करता हूं, अग्नि को प्रदीप्त करता हूं, वह तीन प्रकार की समिधा मेरे यहां ज्ञान,कर्म और उपासना कहलाई जाती है। वाह रे राजा, जानवी क्या उत्तर देते हैं ऋषियो मैं अपने हृदय में उन आग्‍नियों को उद्‍धत कर रहा हूं और प्रातकाल में उदबुद करता हूं। यज्ञ करता रहता हूं उसी क्रम में जगत में यज्ञ करता हूं। 3 समिधा उसे यज्ञ करता हूं । 3 समिधा क्या है ज्ञान कर्म और उपासना के ऊपर चिंतन प्रारंभ रहता है।


प्राधिकृत प्रकाशन विवरण

प्राधिकृत प्रकाशन विवरण
september 09, 2019 RNI.No.UPHIN/2014/57254
1.अंक-37 (साल-01)
2.रविवार,09सितबंर 2019
3.शक-1941,भादप्रद शुक्‍लपक्ष एकादशी ,विक्रमी संवत 2076
4. सूर्योदय प्रातः 5:57,सूर्यास्त 6:43
5.न्‍यूनतम तापमान -26 डी.सै.,अधिकतम-34+ डी.सै., हवा की गति धीमी रहेगी, उमस बनी रहेगी।
6. समाचार पत्र में प्रकाशित समाचारों से संपादक का सहमत होना आवश्यक नहीं है! सभी विवादों का न्‍याय क्षेत्र, गाजियाबाद न्यायालय होगा।
7. स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक, संपादक राधेश्याम के द्वारा (डिजीटल सस्‍ंकरण) प्रकाशित।


8.संपादकीय कार्यालय- 263 सरस्वती विहार, लोनी, गाजियाबाद उ.प्र.-201102


9.संपर्क एवं व्यावसायिक कार्यालय-डी-60,100 फुटा रोड बलराम नगर, लोनी,गाजियाबाद उ.प्र.201102


https://universalexpress.page/
email:universalexpress.editor@gmail.com
cont.935030275


सैन्य गठजोड़ ने क्षेत्र पर सवालों को जन्म दिया

बीजिंग/ वाशिंगटन डीसी। चीन के खिलाफ अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के नए सैन्य गठजोड़ ने प्रशांत महासागर क्षेत्र को लेकर ने सवालों को जन्म ...