सोमवार, 10 जून 2024

उत्तरी अरब सागर एवं महाराष्ट्र में आगे बढ़ा 'मानसून'

उत्तरी अरब सागर एवं महाराष्ट्र में आगे बढ़ा 'मानसून' 

इकबाल अंसारी 
नई दिल्ली। भारतीय मौसम विभाग ने सोमवार को कहा कि दक्षिण-पश्चिम मानसून उत्तरी अरब सागर और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में आगे बढ़ गया है। अगले दो दिनों में मानसून के उत्तरी अरब सागर, दक्षिण गुजरात और महाराष्ट्र के कुछ और हिस्सों में आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियाँ अनुकूल हैं।
मौसम विभाग ने 10 और 11 जून को कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा और तटीय और उत्तरी आंतरिक कर्नाटक में भारी से बहुत भारी बारिश जारी रहने का अनुमान लगाया है।

इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना

पूर्वोत्तर क्षेत्र में अरुणाचल प्रदेश, असम और मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा, तथा उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में व्यापक रूप से व्यापक वर्षा होगी। उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, असम और मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में 10 से 14 जून तक भारी वर्षा होने की संभावना है। नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में भी 10, 13 और 14 जून को भारी वर्षा होगी। असम और मेघालय और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में 11 से 14 जून तक तथा अरुणाचल प्रदेश में 13 और 14 जून को बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है।

इन क्षेत्रों में हल्की से मध्यम वर्षा का अनुमान

मध्य और दक्षिणी भारत में, 18°N के साथ एक शियर ज़ोन और मराठवाड़ा पर चक्रवाती परिसंचरण मौसम के पैटर्न को प्रभावित कर रहे हैं। इन स्थितियों के परिणामस्वरूप अगले 4-5 दिनों तक कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा, कर्नाटक, तेलंगाना, केरल और माहे, और लक्षद्वीप में गरज, बिजली और तेज़ हवाओं (40-50 किमी प्रति घंटे) के साथ व्यापक रूप से हल्की से मध्यम वर्षा होगी। 

यहां 10 से 12 जून तक होगी भारी वर्षा

10 और 11 जून को कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा में, 10 से 12 जून तक केरल और माहे में, 10 और 11 जून को तेलंगाना में, 10 से 13 जून तक कर्नाटक में, 13 जून को तटीय आंध्र प्रदेश और यनम में और 11 जून को रायलसीमा में भारी वर्षा होने की संभावना है। 10 और 11 जून को कोंकण और गोवा में, 10 जून को मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा में, 11 और 12 जून को केरल और माहे में, 10 से 12 जून तक तटीय कर्नाटक में और 10 और 11 जून को उत्तर आंतरिक कर्नाटक में बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है।

उत्तर भारत में भी होगा पश्चिमी विक्षोभ का असर

उत्तर भारत में, पश्चिमी विक्षोभ के साथ-साथ उत्तर-पश्चिमी उत्तर प्रदेश पर चक्रवाती परिसंचरण के कारण 10 जून को उत्तराखंड और राजस्थान में गरज और बिजली के साथ छिटपुट हल्की वर्षा होने की संभावना है। 11 से 14 जून तक राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दक्षिण हरियाणा में 25-35 किमी प्रति घंटे की गति से तेज सतही हवाएं चलने की संभावना है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Thank you, for a message universal express.

अगले 4-5 दिनों तक तेज 'हीटवेव' की संभावना

अगले 4-5 दिनों तक तेज 'हीटवेव' की संभावना  अकांशु उपाध्याय  नई दिल्ली। इस समय देश में सभी देशवासियों का गर्मी से हाल बेहाल है और अभी...