गुरुवार, 10 जून 2021

अनलॉक होते ही लखनऊ में बढ़ा अपराध, दो हत्या

निखिल बाजपेई   

लखनऊ। बुद्धवार से उत्तर प्रदेश के बचे 3 जनपदों में भी अनलॉक हो गया। इन तीन जनपदों में लखनऊ भी शामिल है। बुद्धवार को जहां लॉकडाउन खत्म होने के बाद बाजारों में रौनक और सड़कों पर लोगों का आवागमन शुरू हुआ तो वहीं बुद्धवार को लखनऊ के अनलॉक होते ही अपराधी भी जैसे अनलॉक हो गए। शहर के चार अलग अलग थाना क्षेत्रों में हुई संगीन वारदातों में दो वारदात हत्या से जुड़ी है। बुद्धवार को जैसे ही लॉकडाउन खुला अपराधी अपने मंसूबो को परवान देने निकल पड़े। उत्तरी जोन के मड़ियांव थाना क्षेत्र में किसान की हत्या कर दी गई। लोहिया के गेट पर हत्यारोपित की सुरक्षा में लगे पुलिसकर्मी ने उसके बेटे की गोली मारकर हत्या कर दी। उधर पश्चिम इलाके में भी एक युवक को गोली मार दी गई जिसकी हालत फिलहाल गंभीर है। उधर लूट के इरादे से एक शख्स को गोली मारकर लूट को अंजाम दिया गया।

वारदातों की सूचना से पटा सोशल मीडिया

लखनऊ में अलग अलग इलाके में ताबड़तोड़ वारदातों को अंजाम दिया जाता गया। इन वारदातों की सूचनाएं सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल गई। पुलिस के अधिकारियों से लेकर उनके अधीनस्थ तक मे हड़कम्प मच गया। सभी जोन के प्रभारियों ने अपने अपने मातहत को सख्त निर्देश देते हुए घटनाओं के खुलासे जल्द करने का आदेश दिया है। बशर्ते अब यह लखनऊ पुलिस पर डिपेंड करता है कि लखनऊ कमिश्नरेट पुलिस किन किन घटनाओं का खुलासा कर सकेगी। 

क्या वाकई हत्यारा है मानसिक रोगी ?

मड़ियांव मरभारी गांव में किसान राम गुलाब की बांका मारकर हत्या करने वाले आरोपी सुरेंद्र यादव के बारे में बताया गया है कि वह मानसिक रोगी है। वही घटना के अनुसार जब वह बांके से राम गुलाब के सर व गर्दन पर वार कर रहा था तब ग्रामीणों ने उसे घेरना चाहा लेकिन वह लाइसेंसी राइफल लहराता हुआ भाग निकला। ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि अगर वह मानसिक रोगी हैं तो उसे लाइसेंस कैसे मिल गया। वही पीड़ित परिवार की माने तो आरोपी सुरेंद्र दबंग है। 

उलझी ही है प्रवीण की हत्या की गुत्थी

बुद्धवार को ही अपने पिता ध्रुव की देखरेख के लिए लोहिया अस्पताल में रह रहे प्रवीण ( 34 ) की सिपाही आशीष मिश्रा  ने हत्या कर दी। दरसल सिपाही ध्रुव की अभिरक्षा में ड्यूटी पर था। हालाँकि इस हत्या के बाद भी कई सवाल खड़े हो गए थे। सिपाही हत्या करने के बाद स्वयं आत्मसमर्पण करने पहुंच गया लेकिन इससे पहले तमंचा उसने नाले में फेंक दिया। वही पुलिस यह भी स्पष्ट नही कर पाई है कि प्रवीण और आरोपी में किस बात को लेकर विवाद हुआ था। बैरहाल अभी आरोपी से पुलिस पूछताछ जारी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

आखिरी थ्रो में भाला फेंककर स्वर्ण पदक जीता: नीरज

लिस्बन। स्टार भाला फेंक एथलीट नीरज चोपड़ा ने अपने अंतर्राष्ट्रीय सत्र की शुरुआत सिटी ऑफ लिस्बन एथलेटिक्स मीट में गुरूवार को 83.18 मीटर की थ्र...